सोमवार, 25 मई 2020

कोरोना के खिलाफ सफल लड़ाईः ठाकुर

नई दिल्ली। मोदी सरकार के युवा चेहरे और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत कोरोना के खिलाफ सफलता से लड़ाई लड़ रहा है। कोरोना के संकट के कारण प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था की रफ्तार तेज करने का भी सरकार ने खाका तैयार कर लिया है।


उन्होंने सोमवार को दिए इंटरव्यू में बताया कि मोदी सरकार की ओर हाल में किए गए आर्थिक सुधारों से दुनिया भर की कंपनियां निवेश के लिए आकर्षित होंगी। सरकार ग्रुप ऑफ सेक्रेटरीज की व्यवस्था के जरिए दुनिया भर की कंपनियों को निवेश करने के लिए आकर्षित करने में जुटी है। दुनिया की ग्लोबल सप्लाई चेन में भारत को बड़ी ताकत बनाने के लिए भी मोदी सरकार ने कई अहम कदम उठाए हैं। इससे आयात कम होगा और निर्यात बढ़ेगा। जिससे देश आत्मनिर्भर हो सकेगा। वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने 21 लाख करोड़ के पैकेज पर कांग्रेस के सवाल उठाए जाने पर निशाना भी साधा।


केंद्र सरकार के आर्थिक पैकेज को कांग्रेस नाकाफी बता रही है, इस सवाल पर वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा, “जो कल तक कहते थे कि जीडीपी का पांच प्रतिशत पैकेज होना चाहिए, जब 10 प्रतिशत सरकार ने किया तो उसमें भी आलोचना करते हैं। हमने लगभग 21 लाख करोड़ रुपये का पैकेज दिया है और सुनिश्चित करेंगे कि जनता के सभी वर्गों को एक-एक पाई का लाभ हो। दुनिया भर के देशों ने जिस तरह से जीडीपी के प्रतिशत के हिसाब से पैकेज को नापा है, उसी रूप में भारत ने भी उसका नापा है। हम दुनिया से अपने आप को अलग नहीं देख रहे हैं।”वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने आंकड़ों के हवाला देते हुए कहा, “41 करोड़ लोगों के खातों में अब तक 52,608 करोड़ पहुंचाएं जा चुके हैं। फसल की खरीद के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य में 74 हजार करोड़ रुपये अलग से किसानों को दिया गया है। 86 हजार करोड़ के ऋण किसानों को पिछले दो महीनों में दिए जा चुके और अब सभी 4.25 लाख करोड़ के ऋण की ब्याज किस्त में छह महीने की छूट दी है।


अनुराग ठाकुर ने बताया कि तीन लाख करोड़ का बिजनेस और एमएसएमई के लिए वर्किं ग कैपिटल की सुविधा भी देने के साथ उसकी शत-प्रतिशत गारंटी भारत सरकार दे रही है।अनुराग ठाकुर ने कहा, “हम यह सुनिश्चित करेंगे कि एक-एक पैसा जरूरतमंदों तक पहुंचे। एनबीएफसी के लिए भी हमने घोषणाएं कीं। मनरेगा के लिए एक लाख करोड़ रुपये के ऐतिहासिक बजट का प्रावधान सरकार ने किया है। इससे मनरेगा में तीन सौ करोड़ रोजगार के दिन पैदा होंगे। घर गए प्रवासी मजदूरों को गांवों में ही रोजगार के अवसर मिल पाएंगे। 80 करोड़ भारतीयों को हमने मुफ्त में अनाज दिया और स्वास्थ्य क्षेत्र में कदम उठाए जिससे लोगों को लाभ मिलेंगे।”


कोरोना वायरस के कारण बुरी तरह प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था की रफ्तार कैसे तेज होगी, आखिर सरकार का रोडमैप क्या है? इसपर अनुराग ठाकुर ने बताया कि अर्थव्यवस्था के लिए नए रास्तों पर काम चल रहा है। हथियारों का आयात कम करना, लिस्ट ऑफ वेपन्स बनाना और हिंदुस्तान में उसकी मैन्युफैक्चरिंग करने की दिशा में काम चल रहा है। जिससे रोजगार के साथ आत्मनिर्भर होने के अवसर मिलेंगे। दुनिया की ग्लोबल सप्लाई चेन में भारत को बड़ी ताकत बनाने के लिए ऐसे ढेर सारे कदम उठाए गए हैं। इससे हमारे निर्यात को भी बढ़ावा मिलेगा। वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने सरकार की ओर से हालिया आर्थिक सुधारों का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कई नए सुधार किए गए हैं। नए सेक्टर खोलने के लिए चाहे कोयला एवं मिनरल, खनन की बात हो या बॉक्साइट और कोयला की नीलामी, ये आयात कम करेगा और हमारे भारतीय उद्योग को बढ़ावा देगा। उसी तरह से एसेंसियल कमोडिटी एक्ट और एपीएमसी एक्ट में बदलाव से किसानों को जहां जंजीरों से मुक्ति मिलेगी, वहीं उनकी कमाई भी बढ़ेगी। एक नया दौर किसानों के लिए शुरू होगा। एक लाख करोड़ कृषि आधारभूत ढांचे के लिए घोषित किया गया। वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि मछली पकड़ने के लिए आधारभूत ढांचा तैयार करने के लिए 20 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया। जिससे भारत का एक्सपोर्ट दोगुना होकर एक लाख करोड़ तक पहुंचेगा। उन्होंने कहा कि किसान,बागवान, उद्ममी, व्यापारी, हर भारतीय को बैंक की किस्तें भरने में छह महीने की छूट दी है। उसको भी वह टर्म लोन में तब्दील कर सकते हैं। कोरोना संकट के कारण चीन से निकलने वालीं मल्टीनेशनल कंपनियो को भारत में लाने के सवाल पर अनुराग ठाकुर ने कहा, “दुनिया भर की कंपनियों को आकर्षित करने की दिशा में सरकार काम कर रही है। भारत में दुनिया भर की कंपनियां निवेश करें, इसके लिए ग्रुप ऑफ सेक्रेटरीज की एक कमेटी बनाई जा रही है, जो इन्हें निवेश में मदद करेगी।


हर विभाग में एक प्रोडक्ट डेवलपमेंट सेल होगा जो इनकी मदद करेगा और किस-किस क्षेत्र में आगे बढ़ सकते है, किस प्रोडक्ट को बढ़ावा दिया जा सकता है, जिससे निवेश बढ़े, उसको लेकर राज्यों से लगाातर ग्रुप ऑफ सेक्रेटरीज बातचीत करेंगे ताकि कम समय में अनुमति मिले और उद्योग शुरू हो सकें।”अनुराग ठाकुर ने कहा कि भारत को एक अट्रैक्टिव इन्वेस्टमेंट डेस्टिनेशन बनाने के लिए हमने कारपोरेट टैक्स में भारी कटौती सितंबर 2019 में की थी, जिसमे मात्र 15 प्रतिशत कारपोरेट टैक्स रखा। यह दुनिया भर में सबसे आकर्षित टैक्स रेट है। इसके अलावा हमने उन सार्वजनिक उपक्रमों का निजीकरण करने की बात कही है जो स्ट्रेटजिक सेक्टर में नहीं होंगे। प्रधानमंत्री मोदी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत गांवों के लोगों को आत्मनिर्भर बनाकर पलायन रोकने के मुद्दे पर अनुराग ठाकुर ने कहा, “मेरा मानना है कि हर राज्य को प्रयास करना चाहिए कि माइग्रेशन कैसे कम हो। ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट’ योजना इसमें अहम भूमिका निभा सकती है। इसके अलावा, हमने जो रेहड़ी, ठेला लगाने वाले लोगों को क्रेडिट की सुविधा दी है कि उनको भी बैंक से पैसा मिल सकेगा ताकि वे अपने लिए रोजगार के अवसर खड़े कर सकें। इससे भी उनको बल मिलेगा।”अनुराग ठाकुर ने उदाहरण देते हुए कहा, “जैसे कश्मीर में केसर हो, आंध्र प्रदेश की मिर्च हो या बिहार का मखाना हो, नागपुर का संतरा हो, ऐसे अलग-अलग क्लस्टर बनाने की तैयारी है। इससे शहरों में दबाव भी कम होगा और वहां पर आय के साधन भी उपलब्ध होंगे। उत्पादन बढ़ने पर निर्यात के अवसर भी उपलब्ध होंगे।”देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई कितनी सफल है, इस सवाल पर वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर कहते हैं, “आज भारत के उठाए गए कदमों की प्रशंसा पूरी दुनिया में हो रही है। दो गज की दूरी, मास्क पहन कर और स्वच्छ रहकर इस लड़ाई से को हम जीतकर दिखाएंगे। हमारे कोविड वारियर्स ने बहुत बड़ा काम किया है। देश के हर व्यक्ति ने इस लड़ाई में अपना पूरा सहयोग दिया।”


उन्होंने कहा, “दुनिया के सबसे ज्यादा कोविड-19 केस वाले 15 देशों की कुल जनसंख्या भारत के बराबर है, परंतु इन 15 दिनों में कुल कोविड-19 पॉजिटिव केस 34 गुना ज्यादा और मृतकों की संख्या 83 गुना ज्यादा है। यह आंकड़े भारत के अच्छे प्रदर्शन का उल्लेख है।”वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर का युवाओं के बीच काफी ग्लैमर है। युवाओं के लिए संदेश देते हुए उन्होंने कहा, “ये मत देखिए कि कोविड-19 में केवल 60 साल से ज्यादा वाले व्यक्ति की मृत्यु दर ज्यादा है। यह कम उम्र वालों को भी जकड़ लेता है। अपनी रोग प्रतिरोधक शक्ति ठीक रखें। दो गज की दूरी बनाएं रखें, मुंह को ढक कर रखें हाथ लगातार धोते रहें।”अनुराग ठाकुर ने अपने गृह राज्य हिमाचल प्रदेश की सरकार की सराहना करते हुए कहा कि वहां कोरोना के खिलाफ सफलता से जंग चल रही है। अनुराग ठाकुर अपने संसदीय क्षेत्र हमीपुर की जनता के लिए राहत कार्यो का संचालन लगातार कर रहे हैं। चाहे इलाज की सुविधा हो या फिर राशन और भोजन की, उनकी टीम जरूरतमंदों तक सब कुछ पहुंचा रही है।


सबसे अधिक प्रभावित 10 देशों में 'भारत'

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। कोरोना वायरस ‘कोविड-19′ के एक ही दिन में करीब सात हजार से अधिक मामले आने के साथ भारत इस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित 10 देशों में शामिल हो गया है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी आँकड़ों के अनुसार, आज कुल 6,977 नये मामले सामने आये।


अब तक देश में 1,38,845 मरीजों में इस वायरस के संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। देश में इस समय कोरोना वायरस के 77,103 मरीज उपाचाराधीन हैं और 57,721 स्वस्थ हो चुके हैं जबकि 4,021 लोगों को नहीं बचाया जा सका। इसके साथ ही देश में कोविड-19 के कुल मरीजों की संख्या ईरान से अधिक हो गयी है और इस मामले में हम 10वें स्थान पर पहुँच गये हैं।


दुनिया भर में कोविड-19 के 54 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। कुल 16.43 लाख मामलों के साथ अमेरिका इससे सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। इसके बाद क्रमश: ब्राजील (3.63 लाख), रूस (3.44 लाख), ब्रिटेन (2.60 लाख), स्पेन (2.35 लाख), इटली (2.29 लाख), फ्रांस (1.82 लाख), जर्मनी (1.80 लाख) और तुर्की (1.56 लाख) का स्थान है। भारत में मई महीने में ही एक लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक 01 मई की सुबह देश में इस महामारी के 35,043 मामलों की पुष्टि हुई थी जो आज सुबह बढ़कर 1,38,845 पर पहुँच गयी। इस प्रकार महज 24 दिन में 1,03,802 मामले सामने आ चुके हैं।


दिल्ली में 24 घंटे के भीतर 635 मामले

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 14 हजार के पार हो गए हैं। ताजा आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में कुल 14,053 केस हो गए हैं। पिछले 24 घंटे में 635 नए मामले सामने आए हैं। अस्पतालों द्वारा भेजी गई डेथ रिपोर्ट के आधार पर मौत का आंकड़ा 227 हो गया है। करीब सात हजार लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं और करीब इतने ही एक्टिव केस हैं, इनका अस्पताल में इलाज चल रहा है।

 

सीएम केजरीवाल ने कहा- स्थिति नियंत्रण में, 4500 बेड अभी खाली

दिल्ली में कोरोना की स्थिति और स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा, राज्य में कोरोना के मरीज बढ़ रहे हैं लेकिन स्थिति नियंत्रण में है। अभी 240 वेंटिलेटर और सरकारी-प्राइवेट अस्पताल को मिलाकर करीब 4500 बेड खाली हैं. सरकार ने 117 प्राइवेट अस्पतालों को आदेश दिया है कि वह कोरोना मरीजों के लिए कम से कम 20 फीसदी बेड जरूर रखें।

 

केजरीवाल ने बताया, सरकार कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जीटीबी अस्पताल को भी तैयार कर रही है. जीटीबी में करीब 1500 बेड्स तैयार किए जा रहे हैं। करीब दो हजार बेड्स को ऑक्सीजन बेड्स में बदलने की तैयारी है. ताकि स्थिति बिगड़ने पर भी मरीज को कोई दिक्कत न हो।

देश में लगातार चौथे दिन कोरोना केस में रिकॉर्ड बढ़ोतरी

देश में कोरोना वायरस के मामलों में दिन पर दिन बढोत्तरी हो रही है। आज संक्रमित मरीजों की संख्या एक लाख 38 हजार 845 पहुंच गई है। इसी के साथ भारत आज सबसे ज्यादा संक्रमित देशों की सूची में नंबर 10 पर पहुंच गया है।

 

देश में पिछले 24 घंटों में संक्रमित मरीजों के 6977 नए मामले सामने आए हैं, जो लगातार चौथे दिन की सबसे ज्यादा बढोत्तरी है। वहीं पिछले 24 घंटों में 154 लोगों की मौत हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक अबतक 4021 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 57 हजार 721 लोग ठीक भी हुए हैं।

डीएम ने की 'गाजियाबाद' की सीमाएं सील

दिल्ली-गाजियाबाद सीमा पर लंबा जाम लगाकोरोना के बढ़ते केस के मद्देनजर सीमा सील

अकाशुं उपाध्याय

गाजियाबाद। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में बढ़ता कोरोनाा संक्रमण के तहत जनपद गाजियाबाद की सीमा से लगी संपूर्ण सीमा रेखा को सील कर दिया गया है। जनपद की घनी आबादी को ध्यान में रखते हुए जिला अधिकारी अजय शंकर पांडेय के द्वारा यह एक महत्वपूर्ण और कारगार निर्णय लिया गया है। जनपद के नागरिकों की रक्षा का एकमात्र यही सक्षम उपाय है। जिसका लॉक डाउन के चौथे चरण में उपयोग किया गया है।

जनपद में  8000 के लगभग जांच की जा चुकी है। जिसके पश्चात 150 के लगभग वायरस संक्रमित की जांच रिपोर्ट  आई है। अभी कुल 227 से अधिक संक्रमितो का आंकड़ा जिला प्रशासन के पास है।इसीबीच कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ता देख गाजियाबाद प्रशासन ने सोमवार को दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर सील कर दिया। बॉर्डर सील होने के बाद ग़ाज़ियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर लंबा जाम लग गया है। करीब 3 किलोमीटर तक जाम लगा है। असल में, कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ता हुआ देख गाजियाबाद प्रशासन ने बड़ा फैसला लिया है। सोमवार को गाजियाबाद के जिलाधिकारी ने दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर सील करने का आदेश दे दिया है। डीएम के अनुसार, गाजियाबाद में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस के केस को देखते हुए ये फैसला लिया गया है।

हालांकि, इस दौरान उन लोगों को एंट्री की इजाजत मिलेगी जिनके पास पास होगा। इसके अलावा जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को भी गाजियाबाद में एंट्री दी जाएगी।

डिस्टेंसिंग का पालन और 'ईद मुबारकबाद'

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए एक दूसरे को दी गई ईद की मुबारकबाद

 

एसडीएम ने शहर काजी को दी ईद की शुभकामनाएं

 

सुनील पुरी

फतेहपुर। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोगों ने एक-दूसरे को ईद की शुभकामनाएं दी अधिकारियों ने भी शहर काजी को दूर से ही ईद की शुभकामनाएं दी वह शहर काजी ने भी ईद की शुभकामनाये दी और देश और मुल्क सलामती की दुआ भी की।

 

कोरोना वायरस संक्रमण त्योहारों को भी प्रभावित कर दिया है जहां एक ओर ईद के त्यौहार में भारी भीड़ रहती थी ईदगाह में भी लोगों की भारी संख्या में भी होती थी लोग ईद की नमाज अदा करते थे मेला लगता था रास्ते में भी भारी भीड़ रहती थी लेकिन कोरोनावायरस ने सब कुछ बदल कर रख दिया ईद के त्यौहार को लेकर लोगों में उत्साह का माहौल तो दिखाई दिया लेकिन कोरोनावायरस से बचाव को लेकर लोगों ने 2 गज दूरी ही खड़े होकर एक दूसरे को ईद की बधाई दी एसडीएम प्रहलाद सिंह सी .  ओ।  योगेंद्र सिंह मलिक कोतवाली प्रभारी नंदलाल सिंह यादव ने शहर काजी मोहम्मद रजा कादरी को दूर से ही ईद की शुभकामनाएं दी उन्होने भी सरकारी अधिकारियों को दूर से ही ईद की मुबारकबाद दी 

नगर क्षेत्र के लगभग सभी स्थानों पर लोगों ने एक दूसरे को ईद की शुभकामनाएं दी लोगों ने घरों में रहकर ईद की नमाज अदा की।

फतवो के बाद घर में पड़ी, ईद की नवाज

हुआ चाँद का दीदार कल पढ़ी जाएगी ईद की नमाज़ ईद को लेकर आया में नया चौकाने वाला मामले देखे रिपोर्ट

 

बृजेश केसरवानी

 

नज़र आया ईद का चाँद लोगो ने दी बधाई

 

प्रयागराज। भारत मे आज ईद का चाँद नज़र आया लोगो ने उसका दीदार किया। छोटे, बच्चे, बड़े-बूढ़े सब ने किया चाँद का दीदार लोगो ने एक दूसरे को दी चाँद की बधाई दी।

इस वक़्त पूरे भारत मे ही नही बल्कि पूरी दुनिया कोरोना जैसे वायरस से परेशान है। इस लिए भारत मे भी लॉकडॉउन चल रहा है जिसके वजह से लोग पूरे रोज़े घरों में ही इबादत किये लॉकडाऊन का पालन किये और अब ईद की नमाज भी लॉकडाऊन का पालन करते हुए घरों में अदा करे जिस के लिए उलमाओं ने भी अपील की है और फतवा भी आया है कि इस हालत में आप अपने घरों में ईद की नमाज़ पढ़ी जा सकती है।

दिल्लीः गर्मी का कहर, 38 डिग्री सेल्सियस

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में झुलसा देने वाली गर्मी से आम लोग हलकान हो गए हैं। गर्मी की स्थिति इतनी विकराल हो गई है कि पारा 38 डिग्री सेल्यिसस को छू गया है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया है कि सप्ताह के अंत में धूल और आंधी के साथ पानी पड़ने का पूर्वानुमान है।

 

उत्तर भारत के मैदानी क्षेत्र के अधिकांश शहर भीषण गर्मी का सामना कर रहे हैं। उत्तर पश्चिमी भारत के कई शहरों में पारा 45 डिग्री से भी ऊपर रिकॉर्ड किया जा रहा है। 2020 में प्री-मॉनसून सीज़न में  दिल्ली और एनसीआर में लू का यह पहला झटका है। आमतौर पर दिल्ली में अप्रैल के दूसरे पखवाड़े से भीषण गर्मी का सामना करना पड़ता है. अप्रैल के अंत से ही दिल्ली सहित उत्तर भारत के मैदानी राज्यों में लू का प्रकोप शुरू हो जाता है।

खेल रहे बच्चे को सर्प ने डसा, मौत

घर के समीप खेल रहे बच्चों को सर्प ने डसा हुई मौत

परिजन रो-रोकर हुए बेहाल

 

सुनील पुरी

 

फतेहपुर। घर के समीप खेल रहे 8 वर्षीय बच्चे को अचानक सर्प ने डस लिया बच्चे की हालत बिगड़ते ही परिजनों में हड़कंप मच गया भजन निजी अस्पताल में ले जाने के बाद झाड़-फूंक भी कराते रहें लेकिन बच्चे की मौत हो गई बच्चे की मौत होते ही परिजनों में हड़कंप मच गया परिजन रो-रोकर बेहाल हो गए परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार कर दिया

 

जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के फिरोजपुर गांव में राम सागर का 8 वर्षीय पुत्र गोलू घर के समीप ही खेला था तभी अचानक लकड़ी के बीच बैठे सर्प ने उसे डस लिया सब के डर से ही बच्चे की हालत बिगड़ने लगी परिजनों को जानकारी हुई तो पैरों तले जमीन खिसक गई बच्चे को एक निजी अस्पताल ले जाया गया जब हालत में सुधार नहीं हुआ तो झाड़-फूंक के लिए कई स्थान ले जाया गया लेकिन बच्चे ने दम तोड़ दिया बच्चे की मौत होते ही परिजनों में हड़कंप मच गया परिजन रो-रोकर बेहाल हो गए 8 वर्षीय मासूम बच्चे की मौत के बाद पूरे गांव मोहल्ले में शोक का माहौल बना रहा लोगों ने बताया कि अचानक खेलते खेलते बच्चे को सांप ने डस लिया हालत बिगड़ी तो प्राइवेट अस्पताल के साथ झाड़-फूंक के लिए भी ले जाया गया लेकिन बच्चे की जान चली गई।

लखनऊ से प्रतिदिन 22 उड़ानों की अनुमति

लखनऊ। देश में लाकडाउन के कारण दो महीने बाद शुरू हुई घरेलू उड़ानों के पहले दिन सोमवार को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पर यात्रियों की संख्या अपेक्षाकृत कम रही। नागरिक उड्डयन विभाग ने यहां हर रोज 22 उड़ानों की अनुमति दी जिसमें 11 आगमन और 11 यहां से प्रस्थान करेंगी।


पहली तीन उड़ानों में दो दिल्ली और एक अहमदाबाद के लिये आज सुबह यहां से आई गई हालांकि उनमें यात्रियों की संख्या सामान्य से कम रही। इंडिगो एयरलाइंस के विमान ने अहमदाबाद के लिये तड़के साढ़े पांच बजे पहली उड़ान भरी। एयरपोर्ट के सूत्रों ने बताया कि आमतौर पर एक फ्लाइट में 150 यात्री सफर करते है लेकिन इन उड़ानों में 80 से 100 यात्री सवार थे। इस बीच हवाई अड्डे पर सुरक्षा के चाकचौबंद इंतजाम रहे। लखनऊ पहुंचे यात्रियों को केन्द्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार औपचारिकता पूरी करने के बाद ही बाहर निकलने की इजाजत दी गयी। यात्रियों के सामान को सैनीटाइज करने के बाद यात्रियों के हवाले किया गया। राज्य सरकार ने बाहर से आने वाले यात्रियों को 14 दिन होम क्वारंटीन का पालन करने के निर्देश दिये है। अगर यात्री एक सप्ताह के भीतर प्रदेश से वापसी करता है तो उसे इसे क्वारंटीन में रहने की जरूरत नहीं पड़ेगी।


जगह-जगह बसों का इंतजार करतेंं प्रवासी

अतुल त्यागी

हापुड़। जनपद हापुड़ के पिलखुवा कोतवाली क्षेत्र के नेशनल हाईवे छिजारसी टोल प्लाजा पर बस की तलाश में पहुंचे 40 से 50 प्रवासी मजदूर अपने स्थान पर पहुंचने के लिए रोडवेज बस का कर रहे इंतजार। मजदूरों ने बताया उन्हें पता चला था पिलखुवा टोल प्लाजा पर मजदूरों को छोड़ने के लिए बसे चलाई गई है। जिनसे मजदूरों को उनके घर छोड़ा जा रहा है इसी तलाश में आए हैं। लेकिन टोल प्लाजा पर कोई बस नहीं देख कर मजदूर चिंतित हो गए।

वहीं उप जिला अधिकारी धौलाना का कहना है मजदूरों का टोल प्लाजा पर पहुंचने का मामला संज्ञान में आया है उनके लिए व्यस्त था बनाई जा रही है क्षेत्रीय अधिकारी डॉक्टर तेजवीर सिंह का कहना है मजदूरों के लिए बस की व्यवस्था कराई जा रही है सुरक्षित उन्हें उनके स्थान पर छोड़ा जाएगा अबसे पहले भी व्यवस्था की गई है। हापुड़ प्रशासन द्वारा लगातार मजदूर बसों में बैठाकर सकुशल घरों को भेजे जा रहे हैं।लेकिन उसके बाबजूद भी गाज़ियाबाद सीमा से मजदूर आ रहे हैं जिनकी व्यवस्था हापुड़ पुलिस-प्रशासन द्वारा लगातार की जा रही है।

छिजारसी के पास अब भी मजदूर मौजूद हैं और अपने घरों को जाने के लिये बसों के इंतजार में हैं।

चिकित्सा कर्मियों का पटका पहनाकर सम्मान

अतुल त्यागी

हापुड़। सदर विधायक विजयपाल आढ़ती व जिला अध्यक्ष उमेश राणा द्वारा होटल रॉयल पैलेस में सीएमओ रेखा शर्मा व स्टाफ नर्स मोनिका त्यागी,स्टाफ नर्स वंदना चौधरी

उनकी टीम स्वास्थ्य कर्मचारियों का पटका पहनाकर भारतीय जनता पार्टी हापुड़ द्वारा सम्मान किया गया। कार्यक्रम के संयोजक पूर्व जिला अध्यक्ष डॉ विकास अग्रवाल महामंत्री पुनीत गोयल श्यामेनदर त्यागी मोहन सिंह दक्षिण मंडल के अध्यक्ष प्रवीण सिंघल व उत्तरी मंडल के अध्यक्ष विनीत दीवान आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

उत्तराखंड में संक्रमितों की संख्या में इजाफा

​ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में एक महिला समेत चार लोगों के कोविड सैंपल पॉजिटिव पाए गए हैं। इस प्रकार प्रदेश में कोरोना पाजिटिव मरीजों की संख्या 325 हो गई है।
एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि रानीपोखरी क्षेत्र की एक अप्रवासी 32 वर्षीय महिला जो कि बीती 21 मई को मुंबई से यहां आई थी। उसका कोविड सैंपल पॉजिटिव पाया गया है, यह महिला 22 मई को एम्स की स्क्रीनिंग ओपीडी में जांच के लिए आई थी। जहां पर उसका स्वाब सैंपल लिया गया था। आज उसकी कोवीड19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। यह महिला 21 मई से सीमा डेंटल कॉलेज, ऋषिकेश में क्वॉरेंटाइन है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा एम्स में रुड़की के तीन अन्य सैंपल भी पॉजिटिव पाए गए है। इस बाबत स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को अवगत करा दिया गया है।


सीआरसी स्कूल में 3 महिनों का शुल्क माफ

सीआरसी पब्लिक स्कूल के पबंधक ने तीन महीनों का ट्यूशन शुल्क माफ किया I

अश्वनी उपाध्याय

गाजियाबाद। कोविड-19 संक्रमण ने वैश्विक महामारी का रूप ले लिया है I यह एक जानलेवा बीमारी है ,जिसका फ़िलहाल कोई इलाज नहीं है I  कोविड-19 की वजह से आज पूरी दुनियां के लोग समाजिक, आर्थिक,एवं मानसिक परेशनियों से जूझ रहे हैं I लगातार पीछले 60 दिनों से लॉक डाउन की  वजह से समाज के सभी वर्गों के लोग, चाहे किसी पेशा ,व्यवसाय या रोजगार से जुड़े हो, आर्थिक परेशानी झेल रहे हैं I 

 ऐसे में सीआरसी पब्लिक स्कूल के प्रबंधक श्री दीपक चौधरी एवं श्री गजेन्दर सिंह ने बच्चों की पढाई, उनके उज्ज्वल भविष्य एवं अविभावकों की आर्थिक परेशानी के मद्देनजर  विद्यालय में पढ़ रहे सभी छात्र-छात्राओं की अप्रैल 2020 से जून 2020 तक (तीन महीनों का ) ट्युशन शुल्क माफ़ कर दिया है, साथ ही लॉक डाउन तक कोई नामांकन शुल्क भी नहीं लेने का निर्णय लिया है I 

स्कूल के प्राचार्य ने डा० केएम ईश्वर ने विद्ध्यालय के प्रबंधक श्री दीपक चौधरी एवं श्री गजेन्दर सिंह को इस साहसिक कार्य एवं नेक कदम की सराहना की I उन्होंने प्रबंधक के कुशल मार्गदर्शन एवं रचनात्मक सहयोग की भी प्रसंसा की जिसके कारण विद्यालय में काम करने वाले किसी  कर्मी को लॉक डाउन का सामना नहीं करना पडाI बच्चोँ के सर्वांगीण विकास के प्रति अपनी प्रतिवद्धता दोहराते हुए प्राचार्य ने उत्साही, समर्पित एवं अनुभवी शिक्षकों के अथक प्रयास की भी सराहना की। जिसके बदौलत विद्यालय के छात्र-छात्राओं में शैक्षिक विकास के साथ-साथ उनके शारीरिक, मानसिक, नैतिक, अनुशासन एवं व्यक्तित्व का विकास संभव हो पाया है I उन्होंने कहा कि छात्रों की पढाई 3 अप्रैल से लगातार चल रही है ,इस बीच कई एक्टिविटी भी बच्चों ने की है I 

विद्यालय में कार्यरत शिक्षिका ,श्रीमती नीतू करन ने इस राष्ट्रीय आपदा के समय विद्यालय के सभी बच्चों के तीन महीनों की फीस तत्काल प्रभाव से माफ करने के लिए विद्ध्यालय प्रशासन को आभार वयक्त करते हुए खुद को गौरवान्वित प्रतीत किया,कहा कि वह इस संसथान की हिस्सा हैं I स्कूल में काम कर रहे सभी शिक्षक एवं शिक्षिका शाहरुखन ,गुलशन झा , अर्चना त्यागी, सुनीता मल्लिक,भारती अवस्थी आदि ने भी इस कठिन समय में सहयोग के लिए विद्ध्यालय प्रशासन को आभार व्यक्त किया। अविभावकों से डिजिटल क्लास में दिए गए निर्देशों का पालन करने हेतु अपील की।

30 लाख से अधिक प्रवासी वापस लौटे

लखनऊ। कोविड 19 संक्रमण के खौफ़ के बीच लंबे लॉकडाउन के दौरान रोजगार के सभी रास्त खत्म हो जाने से 30 लाख से अधिक प्रवासी ​श्रमिक अन्य राज्यों से उत्तर प्रदेश वापस लौट आये हैं। जहां आज मजदूर बेहद बुरे दौर से जूझ रहे हैं, वहीं इनके नाम पर राजनैतिक गलियारों में जबदस्त राजनीति चल रही है। शिव सेना के मुखपत्र सामना में छपे संपादकीय में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर न केवल तीखी टिप्पणियां की गई हैं, बल्कि उनकी तुलना हिटलर से कर दी गई है। जिस पर मुख्यमंत्री ने पलटवार किया है। योगी ने ट्वीट कर कहा है, ”एक भूखा बच्चा ही अपनी मां को ढूंढता है। अगर महाराष्ट्र सरकार ने ‘सौतेली मां’ बनकर भी सहारा दिया होता तो महाराष्ट्र को गढ़ने वाले हमारे उत्तर प्रदेश के निवासियों को वापस न आना पड़ता।” आपको याद दिला दें कि शिवसेना प्रवक्ता और सामना के संपादक संजय राउत ने एक लेख में कहा था कि उत्तर प्रदेश में मजदूरों को वापस नहीं घुसने दिया जा रहा। उनके साथ अमानवीय बर्ताव हो रहा है। राउत ने योगी को नसीहत भी दी थी कि उन्हें मन की आंखें खोलनी चाहिए। इसके बाद से ही उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र राज्यों के इन दोनों मुख्यमंत्रियों के बीच प्रवासी मजदूरों को लेकर जुबानी जंग शुरू हो चुकी है।


प्रदेशवासियों को मिलना चाहिए प्रवेश

मुंबई। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने सोमवार को मांग की कि भविष्य में राज्य सरकार को अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासियों में से केवल उनको प्रवेश की अनुमति देनी चाहिए, जो वास्तविक रूप से यहां के हैं। उन्होंने कहा कि अब के बाद जब प्रवासी राज्य में प्रवेश करते हैं, तो उन्हें पंजीकृत होना चाहिए और उनका पूरा व्यक्तिगत विवरण और पहचानपत्र पुलिस के पास पेश करना चाहिए।


ठाकरे ने कहा, “अगर इन आवश्यकताओं को पूरी लगन के साथ पूरा किया जाता है, तभी उन्हें (प्रवासियों को) महाराष्ट्र में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी।” उनकी टिप्पणी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के एक कथित बयान के जवाब में आई है कि अगर किसी राज्य को उनके लोगों की सेवाओं की आवश्यकता है, तो इसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार की पूर्व अनुमति अनिवार्य होगी। ठाकरे ने कहा, अगर ऐसा है तो महाराष्ट्र में प्रवेश करने वाले किसी भी प्रवासी को महाराष्ट्र सरकार और राज्य पुलिस से अनुमति लेने की जरूरत होगी। महाराष्ट्र सरकार को इस मामले को गंभीरता से देखने की जरूरत है। यह याद किया जा सकता है कि 2008 में ये मामला उस समय खासा उछला था जब उत्तर प्रदेश, बिहार और अन्य राज्यों के प्रवासियों को कई महीनों तक निशाना बनाकर आंदोलन चलाया गया था। इस कारण बड़े पैमाने पर सामाजिक-राजनीतिक उपद्रव हुए थे और बाद में ठाकरे और अन्य के खिलाफ अदालती मामले दर्ज किए गए थे।


लगभग 14 साल बाद फिर ऐसा ही मुद्दा उठ रहा है। मोटे अनुमान के मुताबिक, मुंबई और पुणे महानगरीय क्षेत्रों के समृद्ध औद्योगिक-वाणिज्यिक बेल्ट से सबसे बड़ी संख्या में ऑटोरिक्शा, टैक्सियों, बसों, ट्रेनों आदि के द्वारा पिछले दो महीनों में एक लाख से अधिक प्रवासी महाराष्ट्र छोड़ चुके हैं।


संक्रमण के संबंध में महत्वपूर्ण रिसर्च

सिंगापुर। वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि कोरोना वायरस के मरीज 11 दिनों के बाद संक्रमण नहीं फैलाते, भले ही वे 12वें दिन वे कोरोना पॉजिटिव ही बने रहें। न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, सिंगापुर नेशनल सेंटर फॉर इंफेक्शस डिजीजेज (NCID) एंड अकेडमी ऑफ मेडिसीन की स्टडी में ये बात पता चली है। अब तक ये समझा जाता रहा है कि कोरोना मरीज जब तक पॉजिटिव हैं, कोरोना संक्रमण फैला सकते हैं। वहीं रिसर्चर्स ने यह भी कहा है कि लक्षण दिखने के 2 दिन पहले से कोरोना मरीज संक्रमण फैला सकते हैं।


वैज्ञानिकों ने कहा है कि स्टडी के दौरान देखा गया कि कोरोना मरीजों में लक्षण दिखने के 7 से 10 दिन बाद तक संक्रमण फैलाने की क्षमता होती है। सिंगापुर नेशनल सेंटर फॉर इंफेक्शस डिजीजेज ने करीब 73 कोरोना मरीजों पर स्टडी की जिस दौरान उन्हें नई बात पता चली। वैज्ञानिकों ने कहा कि ये देखा गया कि 11 दिन के बाद कोरोना वायरस को आइसोलेट या Cultured नहीं किया जा सकता। वैज्ञानिकों ने कहा है कि लक्षण दिखने के एक हफ्ते बाद कोरोना मरीजों में एक्टिव वायरल रेप्लिकेशन घटने लगता है। नई जानकारी के आधार पर हॉस्पिटल इस बारे में फैसला ले सकते हैं कि मरीजों को कब डिस्चार्ज किया जाए। अमेरिका सहित दुनिया के कई देशों में दो बार निगेटिव टेस्ट आने के बाद ही डॉक्टर ये मानते हैं कि कोरोना मरीज ठीक हो गए। हालांकि, सिंगापुर में की गई स्टडी का सैंपल साइज छोटा था लेकिन नई जानकारी डॉक्टरों के लिए महत्वपूर्ण हो सकती है।


सिंगापुर के NCID की एग्जेक्यूटिव डायरेक्टर लिओ यी सिन ने स्ट्रेट टाइम्स से कहा कि सैंपल साइज छोटा होने के बावजूद नई जानकारी को लेकर रिसर्चर्स विश्वस्त हैं। रिसर्चर्स का मानना है कि बड़े सैंपल साइज में भी ऐसे ही परिणाम देखने को मिलेंगे। लिओ यी सिन ने कहा- वैज्ञानिक दृष्टि से मैं काफी आश्वस्त हूं, इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि कोरोना मरीज 11 दिन बाद संक्रामक नहीं होते हैं।


बता दें कि दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। सोमवार सुबह तक दुनिया में कोरोना के मामलों की संख्या 54 लाख से अधिक हो चुकी है।दुनियाभर में कोरोना से 3 लाख 45 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। एक तरफ दुनिया में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन कई देशों में लॉकडाउन में ढील दी जा रही है। हालांकि, दुनिया के कई देश वैक्सीन की खोज में जुटे हुए हैं।


ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में तैयार की जा रही कोरोना वैक्सीन से पूरी दुनिया को उम्मीदें हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ मिलकर यूनिवर्सिटी ChAdOx1 नाम की वैक्सीन पर काम कर रही है। लेकिन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के ही एक वैज्ञानिक ने ये कहकर चौंका दिया है कि ChAdOx1 वैक्सीन के ट्रायल के सफल होने की उम्मीद 50 फीसदी ही है। उन्होंने अत्यधिक उम्मीद करने को लेकर चेतावनी दी।


ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन डेवलपमेंट टीम का नेतृत्व करने वाले वैज्ञानिकों में शामिल एड्रियन हिल ने कहा कि आने वाले ट्रायल में 10 हजार वॉलेंटियर्स को शामिल किया जा रहा है। लेकिन हो सकता है कि इससे कोई रिजल्ट ना मिले क्योंकि ब्रिटेन में तेजी से कोरोना वायरस के मामले घट रहे हैं। बीते हफ्ते अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना ने अपनी कोरोना वैक्सीन के पहले राउंड के ट्रायल की जानकारी दी थी। पहले राउंड में सिर्फ आठ लोगों को वैक्सीन दी गई थी। लेकिन कंपनी ने कहा कि वैक्सीन सुरक्षित मालूम पड़ती है और इम्यून रेस्पॉन्स पैदा करती है। वहीं, चीन में बनाई गई एक कोरोना वैक्सीन का करीब 108 लोगों पर ट्रायल किया गया। मेडिकल जर्नल The Lancet में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रायल के दौरान पता चला कि वैक्सीन वायरस के खिलाफ इम्यून रेस्पॉन्स पैदा करती है और कारगर साबित हो सकती है।


शीत युद्ध के कगार पर धकेलने की कोशिश

बीजिंग। चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने अमेरिका पर आरोप लगाया है कि उसने कोरोना वायरस महामारी के बारे में ‘षड्यंत्र और झूठ’ फैलाने का आरोप लगाया है, इससे दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है। बीबीसी ने बताया कि रविवार को चीन के संसदीय सत्र के दौरान एक वार्षिक समाचार सम्मेलन में वांग ने कहा, “अमेरिका में कुछ राजनीतिक ताकतें चीन-अमेरिका संबंधों को बंधक बना रही हैं।”


उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि वे कौन सी ताकतें हैं, लेकिन वे ‘हम दोनों देशों को एक नए शीतयुद्ध के कगार पर धकेलने’ की कोशिश कर रही हैं।उन्होंने कहा, “कोरोना वायरस के कारण होने वाली तबाही के अलावा, वे अमेरिका के माध्यम से एक राजनीतिक वायरस भी फैल रही हैं। यह राजनीतिक वायरस चीन पर हमला करने और धब्बा लगाने के हर अवसर का उपयोग कर रहा है।”बीबीसी ने वांग के हवाले से लिखा है, “कुछ राजनेताओं ने बुनियादी तथ्यों की पूरी तरह से अवहेलना की है और चीन को निशाना बनाते हुए कई झूठ भी गढ़े हैं।”


हालांकि उन्होंने प्रकोप से निपटने के लिए वाशिंगटन और बीजिंग के बीच सहयोग का आह्वान किया।वांग ने कहा, “हम दोनों विश्व शांति और विकास के लिए एक बड़ी जिम्मेदारी वहन करते हैं .. चीन और अमेरिका सहयोग से लाभ उठाने और टकराव से हारने के लिए


जापान में पीएम ने आपातकाल हटाया

जापान में नए संक्रमितों की संख्या में गिरावट, पीएम शिंजो आबे ने हटाया आपातकाल 
टोक्यो। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने नए मामलों की संख्या में भारी गिरावट के बाद कोरोना वायरस का मुकाबला करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर लगाए गए आपातकाल की स्थिति को हटा दिया है।नेपाल में एक दिन में सर्वाधिक 72 नए मामले, संक्रमितों की संख्या 675 हुई। नेपाल में सोमवार को कोरोना वायरस के 72 नए मामले सामने आए हैं। जिसके बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 675 हो गई है।
स्वास्थ्य अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
नेपाल ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन दो जून तक के लिए बढ़ा दिया है। नेपाल उन देशों में से है जहां कोराना वायरस के मामले सबसे कम आए हैं।


टोक्यो और चार अन्य प्रांतों में आपातकाल हटाने को तैयार है जापान
एक विशेष सरकारी पैनल के विशेषज्ञों ने टोक्यो और चार अन्य प्रान्तों में कोरोना वायरस आपातकाल हटाने की योजना को मंजूरी दे दी है। इसके बाद प्रधानमंत्री शिंजो आबे के लिए व्यवसायों को धीरे-धीरे फिर से शुरू करने की अनुमति देकर आपातकाल हटाने का मार्ग प्रशस्त हो गया है।
अर्थव्यवस्था मंत्री यासुतोषी निशिमुरा ने संवाददाताओं से कहा कि सरकार द्वारा गठित पैनल के विशेषज्ञों ने डेढ़ महीने से अधिक समय तक चले आपातकाल की स्थिति को समाप्त करने की योजना को मंजूरी दे दी है।


दक्षिण अफ्रीका में 1 जून से मिलेगी छूट

दक्षिण अफ्रीका में एक जून से लॉकडाउन में मिलेगी छूट
दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति ने एक जून से कोरोना वायरस लॉकडाउन के पाबंदियों में रियायत देने की घोषणा की है।


तुर्की में 32 और लोगों की मौत, 1141 नए मामले सामने आए
प्रिटोरिया। तुर्की में कोविड-19 से 32 और लोगों की मौत हो गई, जिससे देश में संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 4,340 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्री फाहरेतिन कोका ने यह जानकारी दी।
कोका ने रविवार को ट्वीट किया कि पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 1,141 नए मामले भी सामने आए हैं, जिसके साथ ही देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 1,56,827 हो गए हैं। अमेरिका के जॉन्स हॉपकिंस विश्वविद्यालय की वैश्विक सूची में तुर्की नौंवे नंबर पर है। वहीं विशेषज्ञों का मानना है कि यह संख्या बताई गई संख्या से कहीं अधिक हो सकती है।
अमेरिका कोरोना वायरस से निपटने के लिए पाकिस्तान को देगा 45.6 करोड़ रुपये। अमेरिका ने कहा कि वह कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से निपटने के पाकिस्तान के प्रयासों में मदद के लिए उसे करीब 45 करोड़ 60 लाख 45 हजार रुपये (60 लाख डॉलर) देगा।
पाकिस्तान में अमेरिकी राजदूत पॉल जोन्स ने शनिवार को एक वीडियो संदेश में कहा कि यह धनराशि पाकिस्तान को उन स्वास्थ्यकर्मियों को और प्रशिक्षण देने में काम आएगी जो अस्पतालों में कोरोना वायरस संक्रमण के गंभीर हालत वाले मरीजों की देखभाल करते हैं। इससे चिकित्सा केन्द्रों में कोरोना वायरस फैलने से रुकेगा। इसके अलावा इससे संक्रमित इलाकों में रहने वाले पाकिस्तानी नागरिकों की जांच के लिए मोबाइल प्रयोगशाला भी बनाई जाएगी।


नवाज के बाद बरसाई अंधाधुंध गोलियां

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के अशांत उत्तर-पश्चिम कबायली क्षेत्र में ईद पर कुछ अज्ञात बंदूकधारियों ने देश के एक शीर्ष सूचना अधिकारी और उनके दो रिश्तेदारों की हत्या कर दी। हमलावरों ने तीनों पर अंधाधुंध गोलीबारी की और मौके से फरार हो गए।


जिला पुलिस अधिकारी शफीउल्ला गांदापुर ने बताया कि जबीआदुल्ला दावर पाकिस्तान हाउजिंग सोसाइटी के निदेशक के तौर पर तैनात थे। वह उत्तर वजीरिस्तान में ईद की नमाज के बाद अपने दो रिश्तेदारों के साथ घर लौट रहे थे। रास्ते में बाइक सवार हमलावरों ने उन पर हमला किया।
अधिकारी ईद मनाने इस्लामाबाद से अपने गांव आए थे। उनकी मौके पर ही मौत हो गई। इस घटना में उनके रिश्तेदार भी मारे गए। पुलिस ने जांच शुरू की है लेकिन अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।


पाकिस्तान में रविवार को ईद मनाई गई। ईद देश के प्रमुख शहरों और नगरों में खुले स्थानों, मस्जिदों और ईदगाहों में मनाई गई। इस दौरान एक-दूसरे से दूरी बनाए रखने और अन्य एहतियाती उपायों का पालन करने की अपील की गई है।


चेन्नई से घरेलू हवाई यात्रा सेवा शुरू की

चेन्नई। दो महीने के अंतराल बाद सोमवार को चेन्नई हवाईअड्डे पर घरेलू हवाई सेवा शुरू हुई। यहां से इंडिगो एयरलाइंस की उड़ान 116 यात्रियों के साथ दिल्ली के लिए रवाना हुई। घरेलू उड़ानों को कोविड-19 लॉकडाउन उपायों के हिस्से के रूप में निलंबित कर दिया गया था।


इस पहली फ्लाइट में 120 यात्रियों को दिल्ली जाने वाले विमान में यात्रा करने के लिए निर्धारित किया गया था, लेकिन अधिकारियों ने चार यात्रियों को बोर्ड करने की अनुमति नहीं दी, क्योंकि उनमें खांसी और सर्दी के लक्षण दिखे थे।


बाद में एक स्पाइसजेट विमान दिल्ली के लिए रवाना हुआ। एयर इंडिया भी यहां से अपनी उड़ान संचालित करने वाली है।अधिकारियों के अनुसार, सोमवार को कई इनकमिंग और आउटगोइंग फ्लाइट संचालित की जानी हैं। इसमें दिल्ली, कोच्चि, मदुरै, हैदराबाद और बेंगलुरू जैसे शहरों में फ्लाइट आनी-जानी हैं।हर यात्री को अपने टिकट को एक बड़ी टीवी स्क्रीन से जुड़े कैमरे से दिखाना होता है। यात्रियों को मास्क पहनना पड़ता है और हवाईअड्डे पर सामाजिक दूरी बनाए रखनी पड़ती है।


रविवार को, तमिलनाडु सरकार घरेलू हवाई यात्रियों के लिए एक मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) लेकर आई थी। एसओपी के अनुसार, बगैर लक्षण वाले यात्रियों को 14 दिनों के लिए होम क्वोरंटीन में रहना होगा।सभी यात्रियों को हवाईअड्डे से बाहर जाने की अनुमति देने से पहले तारीख के साथ ‘संगरोध’ शब्द के साथ मुहर भी लगाई जाएगी।


यदि कोई यात्री में कोरोनावायरस जैसे लक्षण विकसित होते हैं, तो वह 1077 पर जिला कॉल सेंटर को सूचित करेगा या जिला नोडल अधिकारी के कहने पर निकटतम सरकारी अस्पताल जाएगा।


जो जैसा कर्म करेगा, वैसा फल मिलेगा

सब कर्मों का फल है

 

एक स्त्री थी जिसे 20साल तक संतान नहीं हुई। कर्म संजोग से 20वर्ष के बाद वो गर्भवती हुई और उसे पुत्र संतान की प्राप्ति हुई किन्तु दुर्भाग्यवश 20दिन में वो संतान मृत्यु को प्राप्त हो गयी।वो स्त्री हद से ज्यादा रोई और उस मृत बच्चे का शव लेकर एक सिद्ध महात्मा के पास गई। महात्मा से रोकर कहने लगी मुझे मेरा बच्चा बस एक बार जीवित करके दीजिये, मात्र एक बार मैं उसके मुख से" माँ " शब्द सुनना चाहती हूँ। स्त्री के बहुत जिद करने पर महात्मा ने 2मिनट के लिए उस बच्चे की आत्मा को बुलाया। तब उस स्त्री ने उस आत्मा से कहा तुम मुझे क्यों छोड़कर चले गए?मैं तुमसे सिर्फ एक बार ' माँ ' शब्द सुनना चाहती हूँ। तभी उस आत्मा ने कहा कौन माँ?कैसी माँ !!मैं तो तुमसे कर्मों का हिसाब किताब करने आया था।स्त्री ने पूछा कैसा हिसाब!!आत्मा ने बताया पिछले जन्म में तुम मेरी सौतन थी,मेरे आँखों के सामने मेरे पति को ले गई;मैं बहुत रोई तुमसे अपना पति मांगा पर तुमने एक न सुनी।तब मैं रो रही थी और आज तुम रो रही हो!!बस मेरा तुम्हारे साथ जो कर्मों का हिसाब था वो मैंने पूरा किया और मर गया। इतना कहकर आत्मा चली गयी।उस स्त्री को झटका लगा।उसे महात्मा ने समझाया देखो मैने कहा था न कि ये सब रिश्तेदार माँ,पिता,भाई बहन सब कर्मों के कारण जुड़े हुए हैं ।हम सब कर्मो का हिसाब करने आये हैं। इसिलए बस अच्छे कर्म करो ताकि हमे बाद में भुगतना ना पड़े। वो स्त्री समझ गयी और अपने घर लौट गयी ।

 

शिक्षा: हमेशा अच्छे कर्म करने चाहिए।

पत्नीः पति के सीने में उतारी 17 गोलियां

दूसरे की बीबी से प्यार करना पड़ा महंगा, सरेआम उसके साथ हुआ कुछ ऐसा

 

पत्नी ने ही पति के सीने में उतार दी 17 गोलियां

 

पटना। शादीशुदा महिला से इश्क लड़ाना पटना के एक युवक को महंगा पड़ा। उसे इस प्रेम संबंध के लिए अपनी जान देकर कीमत चुकानी पड़ी। बताया जाता है कि वह जिस महिला के साथ प्रेम में था, उसका पति आपराधिक प्रवृति का था। मंगलवार की रात पटना में प्रॉपर्टी डीलर धीरज कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी। मंगलवार की शाम जब धीरज अपने घर आ रहे थे तो पहले से घात लगाए अपराधियों ने उसे गोली मार दी।

 

घटनास्थल से 17 गोलियां बरामद की है। बताया जाता है कि धीरज की मौत घटनास्थल पर ही हो गई। पुलिस ने इस हत्याकांड में पुनीत और टुनटुन साह नामक दो अपराधियों को गिरफ्तार किया है। साथ ही जिस बंदूक से धीरज को गोली मारी गई उसे भी बरामद कर लिया गया है।

 

धीरज जमीन खरीद-बिक्री का काम करता था। उसका अपराधी की पत्नी से साथ प्रेम संबंध था।

बाद मंगलवार की रात जब धीरज अपने घर लौट रहा था तब उसपर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई गई। शुरुआत में मृतक के परिजनों ने इस घटना का कारण जमीन विवाद बताया था। लेकिन बाद में पुलिस ने जांच कर मामले का खुलासा किया।

खतराः बेरोजगारों को डाटा का बहाना

बेरोजगारों को काम के बहाने दिये डाटा लीक:सुरक्षा को खतरा

 

नई दिल्ली। देश में नौकरी ढूंढ़ने वाले करीब तीन करोड़ लोगों की जरूरी जानकारियां इंटरनेट पर लीक हो गई हैं। वहीं करीब 2,000 भारतीयों के पहचान पत्र जिनमें आधार कार्ड भी शामिल हैं, वो भी हैकिंग फोरम पर लीक देखे गए हैं। साइबर इंटेलिजेंस से जुड़ी फर्म साइबल ने ये जरूरी जानकारी साझा की है।

 

24 मई को लिखे अपने ब्लॉग में कंपनी ने बताया है कि पिछले 12 घंटे के भीतर भारतीयों के आधार कार्ड से जुड़ी जानकारी भी हैकर्स ने अलग-अलग फोरम पर साझा किया है। हालांकि, ये जानकारियां कहां से लीक की जा रही हैं, इस बारे में अब तक कोई खुलासा नहीं हो पाया है।

 

फर्म की तरफ से बताया गया है कि लीक हुए डाटा में मध्यप्रदेश के नागरिकों से जुड़ीं 18 लाख लोगों की जानकारियां एक्सेल शीट के फॉर्मेट में इंटरनेट पर उपलब्ध हैं।

 

साथ ही, दिल्ली-एनसीआर, कर्नाटक, पुणे, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, मुंबई समेत देश के कई बड़े शहरों से जुड़े लोगों के और नौकरी से जुड़ी कई वेबसाइट्स के डाटा लीक होने का दावा किया गया है।

 

कंपनी ने 22 मार्च को बताया था कि डार्कवेब साइबर चोरों ने हैकिंग फोरम में करीब 2.3 जीबी की जिप फोल्डर शेयर किया था, जिसमें 2.9 करोड़ लोगों से जुड़ी जानकारियां हैं। जानकारी के मुताबिक उस फोल्डर में भारत में नौकरी तलाश कर रहे लोगों की अहम जानकारियां मसलन उनके नाम, पता, शिक्षा, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी जैसी अहम जानकारियां मौजूद थीं।

 

फर्म का कहना है कि वो अभी जानकारी लीक करने वाले लोगों का पता लगाने में जुटे हैं लेकिन शुरुआती जानकारी के मुताबिक ये काम किसी रिज्यूम एग्रीगेटर का लगता है जिसने नौकरी देने वाले तमाम पोर्टल से आंकड़े इकट्ठा किए होंगे। इन आंकड़ों में भारत के कई राज्यों के लोगों से जुड़ी अहम जानकारियां शामिल हैं।

 

स्पैम ईमेल और एसएमएस भेज रहे: जानकारों का दावा है कि साइबर सुरक्षा से खिलवाड़ करने वाले चोर ऐसी ही निजी जानकारियों का इस्तेमाल कर लोगों को स्पैम ईमेल और एसएमएस भेजकर उन्हें अपना शिकार बनाते हैं। ऐसे लोग स्पैम ईमेल में नौकरी का झांसा देने वाली जानकारी भेजने या फिर लॉटरी की रकम देने का दावा करता हुआ लिंक भेजते हैं जिसे क्लिक करते ही व्यक्ति का मोबाइल या फिर लैपटॉप उनके कब्जे में चले जाने की आशंका रहती है। लीक हुईं जानकारियों का इस्तेमाल चोर, उनके प्रोफाइल से मैच होने वाले संदेश भेजने में कर सकते हैं।

 

सरकार की सलाह: गृह मंत्रालय की तरफ से साइबर सुरक्षा को मजबूत करने के लिए चलाए जा रहे अभियान वाले ट्विटर हैंडल साइबर दोस्त में साफ कहा गया है कि ऐसे लोगों से सावधान रहें। सरकार कहती है कि याद रखें इंटरनेट पर मिलने वाली बहुत कम सामग्रियां मुफ्त होती हैं। मुफ्त में चीजें देने के एवज में साइबर ठग आप को फंसा सकते हैं, इसलिए ऑनलाइन फ्री ऑफर्स से सावधान रहें। यही नहीं, जॉब सर्च पोर्टल रजिस्ट्रेशन के लिए भी गृह मंत्रालय की तरफ से सलाह दी गई है कि ऐसी जगहों पर रजिस्ट्रेशन के पहले भली-भांति उनकी प्राइवेसी पॉलिसी को पढ़ लें ताकि आपको पता रहे कि आपकी जानकारी का किन हाथों में इस्तेमाल किया जाने वाला है। आपके तमाम तरह के इंटरनेट लॉगिन का कोई गलत इस्तेमाल न कर पाए, इसके लिए समय-समय पर पासवर्ड बदलते रहने की भी सलाह दी गई है।

 

डाटा लीक से खतरा: साइबर मामलों के विशेषज्ञ पवन दुग्गल ने ‘हिन्दुस्तान’ से बातचीत में इस लीक को भविष्य के लिहाज से बेहद गंभीर बताया है। उन्होंने कहा कि अमूमन ऐसी जानकारियां लोग बेचते हैं लेकिन मुफ्त में ये तमाम चीजें साइबर स्पेस के लिए बड़ा खतरा बन गई हैं। पवन दुग्गल के मुताबिक इनमें 2.9 करोड़ लोगों की निजी जानकारियों के साथ-साथ उनके स्कूल और नौकरियों के संस्थानों से जुड़ी अहम जरूरी जानकारियां होंगी जो आने वाले दिनों में सभी के लिए खतरा पैदा कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि भारत अगर अब भी साइबर सुरक्षा और उससे जुड़े कानूनों के प्रति गंभीर नहीं होता है तो आने वाले दिनों में भयानक परिणाम देखने पड़ सकते हैं।

 

प्रताप सिंह 

भ्रष्ट आईएएस अधिकारी पर गिरी गाज

आईएएस अफसर पर गिरी गाज,सवा करोड़ में वीसी कानपुर की कुर्सी खरीदने का किया था प्रयास,15 लाख दिए थे एडवांस, 3 हुए है गिरफ़्तार

 

लखनऊ। सवा करोड़ रुपये खर्च करके कानपुर में विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष की कुर्सी हासिल करने के प्रयास के आरोप में आईएएस अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही शुरू हो गयी है,प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अफसर को राजस्व परिषद् में भेज दिया है,इस मामले की जांच आगे भी जारी रहेगी। कल ही इस मामले में तीन लोग गिरफ्तार किये गए थे,प्रदेश शासन ने आईएएस अधिकारी आई.पी.पांडेय को विशेष सचिव आबकारी के पद से हटाकर राजस्व परिषद् के सदस्य के पद पर स्थानांतरित कर दिया है,एस.टी.एफ की रिपोर्ट के बाद ये कार्यवाही की गयी है 

 

दरअसल एक ऑडियो वायरल होने के बाद प्रदेश सरकार के निर्देश पर वायरल ऑडियो की जांच शुरू की गयी तो यूपी एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश और एसएसपी विशाल विक्रम सिंह ने गाज़ियाबाद से पीयूष अग्रवाल नाम के एक युवक को गिरफ्तार किया,जिसने कानपुर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष के पद पर नियुक्ति कराने के लिए एक आईएएस अफसर से 15 लाख रुपये ठग लिए और बताया था कि सौदा सवा करोड़ में तय हुआ था जिसके पेशगी के आईएएस अफसर ने 15 लाख दे भी दिए थे एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार किए गए पीयूष अग्रवाल ने पूछताछ में बताया कि उससे गौरी कांत दीक्षित नाम का एक व्यक्ति मिला था। जिसने एक आईएएस अफसर की कानपुर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष के पद पर नियुक्ति कराने के लिए सवा करोड़ रुपए खर्च करने की बात कही थी। गौरी कांत ने उसकी लखनऊ के कमलेश से मुलाकात कराई थी।जिसके बाद हुए सौदे के मुताबिक आईएएस आई.पी .पांडेय के दो रिश्तेदार 15 लाख रुपए एक लिफाफे में लेकर आए थे, जिसमे से उसने दो लाख कमलेश और दो लाख गौरीकांत को देकर, शेष 11 लाख अपने पास रख लिए थे और दिल्ली आ गया था। इसके बाद उसने आईएएस के स्थानांतरण का बहुत प्रयास किया जो अभी सफल नहीं हो सका। इसके बाद गौरी कांत उस पर पैसा वापसी का दबाव बनाने लगा। लॉकडाउन में इधर उधर रुपए खर्च हो जाने के कारण वह वापस करने की स्थिति में नहीं था और तभी गौरी कांत ने उससे बातचीत की ऑडियो को वायरल कर दिया।एसटीएफ ने पीयूष अग्रवाल के खिलाफ लखनऊ के विभूतिखंड थाना में धोखाधड़ी के मामले में मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी थी |जिसके बाद एस.टी.एफ ने इस मामले में गौरी कान्त दीक्षित और कमलेश कुमार सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया था |

 

फिर पूरी कहानी खुलकर ये सामने आयी कि कानपुर में विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष के पद के लिए एक आईएएस अफसर ने सवा करोड़ रुपये देने तय किये,जिसमे से 15 लाख बतौर बयाना दे भी दिया गया था लेकिन लॉक डाउन के चलते तबादले बंद है, तो अफसर परेशान हो गए और उन्होंने अपने 15 लाख वापस मांगे ,मामला यहीं से बिगड़ गया,क्योंकि जो बयाना आया था वो तो पीयूष अग्रवाल,गौरीकान्त और कमलेश बाँट चुके थे,इसलिए वापस लौटाने को लेकर दिक्कत हो रही थी,इसी मामले में कमलेश ने पीयूष से हुई बात रिकॉर्ड कर ली और गौरीकांत ने ऑडियो वायरल करा दी,ये मामला जैसे ही शासन में पहुंचा तो वहां हडकंप मच गया और तत्काल इस पूरे मामले में एस.टी.एफ को जांच करने के आदेश दे दिए गए | आदेश के बाद जब एस.टी.एफ के आईजी अमिताभ यश ने ये जांच शुरू की तो सारा मामला खुलकर आ गया और तीन की गिरफ्तारी हो गयी |

इस प्रकरण में एस.टी.एफ ने एक प्रेस बयान जारी करके बताया था कि आईजी अभिताभ यश के निर्देशन में प्रभारी एसएसपी विशाल विक्रम सिंह द्वारा उप निरीक्षक शिवनेत्र सिंह, के नेतृत्व में टीम गठित कर जांच की जा रही थी। उक्त जाॅच के क्रम में लाखोें की ठगी करने वाले गिरोह का भण्डाफोड़ करते हुये अभियुक्त पीयूष अग्रवाल को एस0टी0एफ0 टीम द्वारा -21.05.2020 को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। छानबीन के बाद प्रकाश में आये अभियुक्तों गौरी कान्त दीक्षित एवं कमलेश कुमार सिंह को भी एसटीएफ टीम द्वारा विजयीपुर अण्डरपास गोमतीनगर जनपद लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया गया है | गिरफ्तार उपरोक्त अभियुक्तों में गौरीकान्त दीक्षित ने पूछताछ पर बताया कि मैं एवं पीयूष अग्रवाल गाजियाबाद में एक ही सोसायटी में रहते है और हमारे पारिवारिक सम्पर्क है, हम लोग धोखाधडी के कार्यो में लिप्त रहते हैं। मेरे गिरोह का सरगना पीयूष अग्रवाल (कथित दलाल) है। जो एक सामाजिक कार्यकर्ता एवं डी0डी0 न्यूज का पत्रकार है। इसी कारण उसके तमाम बडे अधिकारियों से सम्बन्ध है जिसका प्रभाव दिखाकर वह लोगों को अपने जाल में फंसाकर ट्रान्सफर करवाने के नाम पर, हम लोगों के सहयोग से धोखाधडी करके पैसा ठग लेता है।

 

 कमलेश कुमार सिंह से हमारे पुराने सम्बन्ध है। कमलेश कुमार सिंह ने मुझसे एक आई0ए0एस0 अधिकारी की पोस्टिंग उपाध्यक्ष कानपुर नगर विकास प्राधिकरण के पद पर कराने के लिये कहा था, जिस पर मैने पीयूष अग्रवाल से ट्रान्सफर कराने के लिए बात किया, तब पीयूष अग्रवाल ने मुझसे कहा कि वह इस कार्य को करवा देगा, लेकिन इसमें 1 करोड रूपया खर्च होगा और इसके ऊपर जो तय होगा उसे हम तीनों आपस में बांट लेंगे। यह डील सवा करोड़ (1.25 करोड़) में फाइनल हुई। इस कार्य हेतु पीयूष अग्रवाल, मेरे साथ एवं कई बार अकेले जनपद गाजियाबाद से लखनऊ आया। मैने ही पीयूष अग्रवाल की कमलेश से मुलाकात लखनऊ में कराई थी। गौरीकान्त ने बताया कि मेरे ही कहने पर कमलेश ने 2 मार्च को होटल सिलवर सेवन में जाकर पीयूष अग्रवाल को एडवांस के पन्द्रह लाख रूपया एक लिफाफे में दिया था, जिसमें से उसी समय दो लाख रूपया पीयूष अग्रवाल ने कमलेश कुमार सिंह को दे दिया था, तथा दो लाख मेरे (गौरीकान्त दीक्षित) बैंक खाते में जमा करवा दिया था। शेष 11 लाख रूपये लेकर पीयूष अग्रवाल इटावा होते हुये दिल्ली चला गया था। ट्रान्सफर कराने हेतु पीयूष अग्रवाल ने काफी प्रयास किया किन्तु लाकडाउन होने के चलते किसी से सम्पर्क नहीं हो सका, जिसके कारण काम नहीं हो पाया। 

उक्त पैसा मैने एवं पीयूष अग्रवाल ने मिलकर धोखाधड़ी से किसी को देने के नाम पर लिया था, और यह सोचा था कि पीयूष अग्रवाल अपने सम्पर्को के माध्यम से काम करवा देगा। इसी बीच मुझे थाना नेव सरांय दिल्ली पुलिस ने फ्राड के पुराने मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, मेरी जमानत पीयूष अग्रवाल ने भाग दौड करके करायी थी। जब मै जमानत पर रिहा होकर आया तब कमलेश कुमार सिंह ने फोन पर बताया कि ट्रान्सफर वाला काम नही हो पाया है। मेरी बात खराब हो रही है, मैने कई बार पीयूष अग्रवाल से फोन करके कहा कि काम नही हो पा रहा है तो मेरा पैसा वापस करवा दो। जिसके लिए पीयूष अग्रवाल तैयार नही हुआ और कमलेश कुमार सिंह पैसा वापस करने के लिए दबाव बनाने लगे, तब हमारा और पीयूष अग्रवाल का आपस मे विवाद हो गया, तब मैने फोन करके कमलेश कुमार सिंह से कहा कि पीयूष अग्रवाल से बात कर लो और उसकी रिकार्डिग करके मुझे भेज दो जिस पर कमलेश ने पीयूष अग्रवाल से बातचीत की और रिकार्डिग मुझे भेज दिया। 

मैने उक्त रिकार्डिग पत्रकार के माध्यम से वायरल करा दिया था, और बताया कि जो आडियो क्लिप मैने पत्रकार को भेजी है, उसमें पीयूष अग्रवाल व कमलेश कुमार सिंह के बीच में हुई वार्ता ही है। कमलेश कुमार सिंह ने पूछताछ में स्वीकारोक्ति करते हुये बताया कि जो बाते गौरीकान्त दीक्षित ने बताया है ,वही सत्य हैं। एस0टी0एफ0 टीम द्वारा अभियुक्तों गौरीकान्त दीक्षित एवं कमलेश कुमार सिंह कोे गिरफ्तार कर मु0अ0सं0-242/2020 धारा-420,467,468, 471,201,120बी भा0दं0वि0 व 66 आई0टी0 ऐक्ट थाना विभूतिखण्ड जनपद लखनऊ में दाखिल किया गया अग्रिम विधिक कार्यवाही थाना विभूतिखण्ड पुलिस द्वारा की जा रही है।

 

एसटीएफ की इसी रिपोर्ट के बाद प्रदेश शासन ने आज इस मामले में रुपये देने वाले अधिकारी को विशेष सचिव आबकारी के पद से हटाकर राजस्व परिषद् में भेज दिया है,इस मामले में आगे भी कार्यवाही किये जाने की सम्भावना है |

शराब पार्टी में की दो युवकों की हत्या




गोरखपुर में शराब पार्टी के दौरान दो युवकों की 9 एमएम की पिस्टल से गोली मार हत्या

 

गोरखपुर। जिले के झगहां थाना क्षेत्र में रविवार को दो युवकों की गोली मार कर हत्या कर दी गई। वारदात में 9 एमएम पिस्टल का इस्तेमाल किया गया। वारदात के दौरान शराब पार्टी मौके पर चल रही थी। मौके से शराब की बोतले भी मिली। दिन दिहाड़े हुई इस वारदात के बाद इलाके में सनसनी का माहौल है। झंगहा थाना क्षेत्र जे बरगदवा गांव के पास गोर्रा नदी के तट पर रविवार को अपराह्न 2.30 दो युवकों की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। घटनास्थल पर नाइन एमएम का एक जिंदा एवं तीन फायर हुा खोखा और एक बाइक बरामद किया गया है।

 

मौके पर रॉयल स्टेग की एक बोतल, पानी की बोतल और चप्पल मिला है। माना जा रहा शराब पीने के बाद वहां पर किसी बात को लेकर विवाद हुआ। पुलिस के ब्लाइंड मर्डर में मरने वालों की पहचान रामनगर कडजहा निवासी कृष्णा निषाद (20) पुत्र राजेंद्र निषाद एवं दिवाकर (18) पुत्र सुदामा निषाद के रुप में किया है। दोनो गांव में एक दूसरे के पट्टीदार है। सुदामा निषाद को उनके पुत्र की गोली मार कर हत्या करने की सूचना मिली तो मौके पर पहुंचे। उन्होंने बताया कि उनकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं है। कैसे और क्यों हत्या हुई है? वह खुद ही नही जान पा रहे है।

 

उसके बाद गोली मार दी गई। हीरो एचएफ डीलक्स मोटरसाइकिल, एक मोबाइल व एक आईडी बरामद हुआ है। आईडी पर खोराबार क्षेत्र के बहरामपुर निवासी मुकेश पुत्र बुद्धू का नाम है। नाइन एमएम पिस्टल से हत्या की गई है। हत्या की सूचना के बाद थानाध्यक्ष झंगहा अनिल कुमार सिंह पहुंचे थे। इसके बाद एसपी नार्थ अरविंद पांडेय, क्षेत्राधिकारी अर्चना मिश्रा पहुंच गए। पुलिस अधिकारी ने मौके का निरीक्षण किया है। ब्लाइंड मर्डर की गांठे खोलने के लिए पुलिस की एफएसएल टीम और डॉग स्कवायड की टीम भी वारदात स्थल पर तफ्तीश कर रही है।




 








Quick Reply

किसान क्रेडिट पर मिलेगी कई छूट

किसानों के लिए आई बड़ी खुशखबरी! किसान क्रेडिट कार्ड पर मिलेगी ये छूट!

 

 किसानों की मदद के लिए सरकार कई स्कीम चलाती है। इसमें से एक किसान क्रेडिट कार्ड (KCC-Kisan Credit Card) है। इसके जरिए किसानों को 1.6 लाख रुपये का लोन बिना गारंटी के दिया जाता है। वहीं, 3 साल में किसान इसके जरिए 5 लाख रुपये तक का लोन ले सकते हैं। इस कार्ड में ब्याज (Interest Rates) दर भी बेहद कम 4 फीसदी सालाना है। लेकिन अब 7 करोड़ किसानों को बड़ी राहत देते हुए केसीसी पर लिए गए लोन (Agri loan) के भुगतान की तारीख आगे बढ़ाकर जल्द 31 अगस्त किया जा सकता है. क्योंकि आरबीआई ने इसकी छूट दे दी है। हालांकि, बैंकों के पास अभी तक अधिसूचना नहीं पहुंची है। इसीलिए किसानों को इसकी जानकारी नहीं मिली है।

 

फिलहाल, अभी इसकी अंतिम तारीख 31 मई है. जो पहले 31 मार्च से बढ़ाई गई थी।

इससे क्या होगा- इसका मतलब साफ है कि किसान केसीसी कार्ड के ब्याज को सिर्फ 4 प्रतिशत प्रति वर्ष के पुराने रेट पर ही भुगतान कर सकते हैं। कोरोना वायरस लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) में किसानों को राहत देने के लिए यह निर्णय लिया गया है। खेती-किसानी के लिए केसीसी पर लिए गए तीन लाख रुपये तक के लोन की ब्याजदर वैसे तो 9 फीसदी है. लेकिन सरकार इसमें 2 परसेंट की सब्सिडी देती है। इस तरह यह 7 फीसदी पड़ता है. लेकिन समय पर लौटा देने पर 3 फीसदी और छूट मिल जाती है. इस तरह इसकी दर ईमानदार किसानों के लिए मात्र 4 फीसदी रह जाती है.आमतौर पर बैंक किसानों को सूचित कर 31 मार्च तक कर्ज चुकाने के लिए कहते हैं. अगर उस समय तक कर्ज का बैंक को भुगतान नहीं करते हैं तो उन्हें 7 फीसदी ब्याज देना होता है।

 

कोविड-19 संकट को देखते हुए सरकार ने इसी बढ़े ब्याज पर राहत देकर 31 मई तक उनसे सिर्फ 4 फीसदी रेट पर ही पैसा वापस लेने का फैसला लिया है। अगर मेरे पास एक हेक्टेयर जमीन है तो मुझे कितना लोन मिलेगा? उत्तर प्रदेश के जिले अमरोहा में स्थित प्रथमा बैंक के ब्रांच मैनेजर अंकुर त्यागी ने बताया कि 1 हेक्टकेयर जमीन पर 2 लाख रुपये तक का लोन मिल सकता है. लोन की लिमिट हर बैंक की अलग-अलग होती है. बैंक आपको इसके लिए किसान क्रेडिट कार्ड जारी करेगा. जिसके जरिए आप कभी भी पैसा निकाल सकते है.

KCC किसी भी को-ऑपरेटिव बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक(RRB) से हासिल किया जा सकता है. नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया(NPCI) रुपे KCC जारी करता है. - SBI, BOI और IDBI बैंक से भी यह कार्ड लिया जा सकता है। जनोपयोगी,कानूनी,तकनीकी, सरकारी योजनाओ, आपसे सरोकार रखने वाली नौकरियों व व्यवसाय की उपयोगी जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने व्हाट्सएप ग्रूप में नीचे दिए नंबर को जोड़े या नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके भी आप सीधे मुझसे जुड़ सकते है।


 

एडवोकेट प्रताप सिंह सुवाणा

देश के प्रति टीचर की ओछी मानसिकता

अब सामने आयी एक टीचर की ओछी मानसिकता: बड़ा सवाल इनको नहीं देश से प्यार तो क्यों नहीं चलें जाते बाहर

 

गोरखपुर। भारत के राज्य उत्तर प्रदेश (UP) में कथित तौर पर देशद्रोही हरकत करने पर एक महिला टीचर की नौकरी चली गई। यूपी के गोरखपुर में एक निजी स्कूल की टीचर की हरकत से हंगामा मच गया। टीचर शादाब खानम ने अंग्रेजी की ऑनलाइन क्लास में नाउन समझाने के नाम पर व्हाट्एसएप ग्रुप में पाकिस्तान का गुणगान वाले कई उदाहरण दिए। इन उदाहरणों पर बच्‍चे चौंके और अपने माता-पिता से शिकायत की। इसके बाद हंगामा मच गया। शिक्षिका क्‍लास फोर्थ 'ए' की क्‍लास टीचर बताई जाती हैं। अभिभावकों ने आरोप लगाया कि उनकी हरकत पाकिस्तान के पक्ष में बच्चों का ब्रेनवाश करने की साजिश है। मामले की सूचना एडी बेसिक, डीआईओएस और बीएसएस को दे दी गई है।

 

खुफिया एजेंसियां भी मामले को लेकर सतर्क हो गई हैं।

 

पाक के लिए कसीदे पढ़ने वाली शिक्षिका बर्खास्‍त

अभिभावकों के सख्‍त तेवर देकर स्‍कूल प्रबंधन ने फिलहाल शिक्षिका को काम से रोक दिया है। उन्‍होंने शिक्षिका को बर्खास्‍त करने की बात कही है। उधर, नौकरी जाती देख शिक्षिका ने भी अपनी सफाई देनी शुरू कर दी। उनकी कोशिश इसे एक छोटी सी गलती बताकर बच जाने की है। दरअसल कोरोना लॉकडाउन के चलते ज्‍यादातर स्‍कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई करवाई जा रही है। इसके लिए व्हाट्सएप और वेबकास्ट ग्रुप बने हैं। इस दौरान एक निजी स्कूल की टीचर शादाब खानम ने ऑनलाइन क्लासेस दौरान शुक्रवार को कक्षा चार-ए के व्हाट्एसएप ग्रुप में कई पोस्‍ट डाले। वह नाउन का मतलब समझा रही थीं, लेकिन उनके उदाहरणों में भारत के नहीं पाकिस्तान में जिक्र किया जा रहा था। पाकिस्‍तान को 'मदर लैंड' बताने की कोशिश के साथ कई आपत्तिजनक बातें लिखी जा रही थीं।

 

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो

कुछ ही देर में ये पोस्ट सोशल मीडिया में वायरल हो गए। शिक्षिका ने व्हाट्स एप ग्रुप पर एक पीडीएफ फाइल भी पोस्‍ट की थी जिसमें पाकिस्तान से संबंधित तीन अलग-अलग बातें थीं। एक में लिखा था 'मैं पाकिस्तानी आर्मी मज्वाइन करूंगा', दूसरे में लिखा था, 'पाकिस्तान हमारी मातृभूमि' बताया गया। तीसरे उदाहरण में पाकिस्तानी पायलट राशिद मिन्हास की बहादुरी का जिक्र था। यह पीडीएफ अभिभावकों ने देखी तो उन्‍होंने तत्‍काल इसकी शिकायत स्कूल प्रबंधन से की। अभिभावकों ने आरोप लगाया कि यह बच्चों पर राष्ट्रविरोधी मानसिकता थोपने की साजिश है। कई अभिभावकों ने शिक्षिका को गिरफ्तार करने और राष्‍ट्रदोह का मुकदमा चलाने की भी मांग की।

 

स्कूल प्रबंधक ने कहा कि ये गलती स्वीकार्य नहीं

अभिभावकों ने बताया कि इस व्हाट्स एप ग्रुप की एडमिन शिक्षिका शादाब खानम ही हैं। ग्रुप में 40-50 बच्चे जुड़े हैं। ये खबर जैसे ही स्कूल प्रबंधन तक पंहुची तो स्कूल प्रबंधन भी हरकत में आ गया है। स्कूल प्रबंधक ने कहा कि ये गलती स्वीकार्य नहीं है। शिक्षिका को कारण बताओं नोटिस जारी कर दिया गया है। साथ ही जब तक उनका जवाब नहीं मिलता है तब तक शिक्षिका को ऑनलाइन क्लास में अध्ध्यन सामाग्री डालने पर रोक लगा दी गई है।

 

बवाल होने पर शादाब खानम पलटी - मैं सच्ची देशभक्त हूं

उधर, ऑनलाइन क्लास में पाकिस्तान का उदाहरण देने वाली शिक्षिका शादाब खानम ने कहा कि जल्दबाजी में ऑनलाइन कंटेंट अपलोड करने में गलती हुई है। गूगल से मैंने जब 'डिफिनेशन ऑफ नाउन विद एक्जाम्पल' इमेज में सर्च किया तो उसमें ये पाकिस्तान वाले उदाहरण मिले। जल्दबाजी में मैने बिना पढ़े उसे व्हॉट्सग्रुप पर अपलोड कर दिया। हालांकि उसके फौरन बाद ही मैने ग्रुप पर साफ कर दिया था कि गलती से इंडिया की जगह पाकिस्तान लिखा गया है। इन्हे सिर्फ उदाहरण समझा जाए। मैं सच्ची देशभक्त हूं और कभी ऐसी बात जानबूझ कर नहीं कर सकती जो देशद्रोह की श्रेणी में आए। मुझे भारतीय होने पर गर्व है।

 

यह कृत्य सुनियोजित साजिश-स्कूल प्रबंधन

मगर शिक्षिका का ये तर्क स्कूल प्रबंधन के गले नहीं उतर रहा है। स्कूल प्रबंधन का मानना है कि गूगल पर नाउन को सर्च करने के दौरान आसानी से पाकिस्तान से जुड़ा कोई उदाहरण सामने नहीं आता है। यह कृत्य सुनियोजित साजिश की तरफ इशारा कर रहे हैं।

 

प्रताप सिंह

बिना मिट्टी छत पर उगाएं 'फल-सब्जी'

बिना मिट्टी छत पर उगाएं फल-सब्जी, सालाना लाखों में कमाऐं

 

आइए जानते हैं क्या है ये तकनीक और कैसे हो सकती है कमाई?

 

नई दिल्ली। आज कल लॉक डाउन और कोरोना के कारण कईयों से नौकरी छूट गयी अब वे लोग नौकरी छोड़ खेती की ओर अग्रसर हो सकते हैं। खेती में नई-नई तकनीक का इस्तेमाल कर लोग पैसा बना रहे हैं। अगर आप खेती-बाड़ी में अपना हाथ आजमाना चाहते हैं तो आपके लिए हाइड्रोपोनिक्स तकनीक काफी कारगर साबित हो सकता है। इसमें खेती के लिए जमीन (Land) की जरूरत नहीं होती। इसे आपने घर की छत (Terrace) या आंगन में भी शुरू कर सकते हैं। इस तकनीक में लागत कम लगती है और कमाई अच्छी-खासी हो सकती है.

 

हम बात कर रहे हैं बिना मिट्टी के खेती की। आइए जानते हैं क्या है ये तकनीक और कैसे हो सकती है कमाई?

 

फार्मिंग को कैश करने का मौका

आजकल टेरेस फार्मिंग  उभरता ट्रेंड है जिसे कैश करने का आपको बढ़िया मौका मिल रहा है। इस तकनीक में मिट्टी का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं होता है और पौधों (Plants) के लिए जरूरी पोषक तत्व (Nutrients) पानी के सहारे सीधे पौधों की जड़ों तक पहुंचाया जाता है। इसे हाइड्रॉपनिक्स तकनीक कहा जाता है। पौधे एक मल्टीलेयर फ्रेम के सहारे पाइप में उगाए जाते हैं और उनकी जड़ें पाइप के अंदर पोषक तत्वों से भरे पानी में छोड़ दी जाती है।

 

हाइड्रॉपनिक्स तकनीक के सेटअप के लिए कई कंपनियां काम करती हैं जो शौकिया गार्डन से लेकर कमर्शियल फार्म सेट करने में आपकी मदद करती है। इसमें लेटसेक्ट्रा एग्रीटेक बिटमाइंस इनोवेशंस, फ्यूचर फार्म्स, हमारी कृषि जैसे स्टार्टअप्स काम कर रहे हैं। इन कंपनियों से हाइड्रॉपनिक्स सेटअपर को खरीदा जा सकता है। दो मीटर ऊंचे एक टावर में करीब 35 से 40 पौधे लगाए जा सकते हैं। लगभग 400 पौधे वाले 10 टावर आप 1 लाख रुपये तक में खरीद सकते हैं। अगर सिस्टम को सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए तो आगे सिर्फ बीज और पोषक तत्व का ही खर्च आएगा।

 

पॉली हाउस की जरूरत

मौसम की मार से बचने के लिए नेट सेड या पॉली हाउस की जरूरत होगी। इस तकनीक के जरिए कंट्रोल्ड एनवायरमेंट में खेती होती है। इसलिए अक्सर किसान ऐसी सब्जियों का उत्पादन करते हैं जिसकी मार्केट में कीमत ज्यादा होती है।महंगी फल और सब्जियां उगाकर आप सालाना 2 लाख रुपये तक की कमाई कर सकते हैं।

भारतीय तैयारियों से तिलमिलाया चीन

लद्दाख और सिक्किम में सीमा पर भारतीय तैयारियों से तिलमिलाया चीन

 

लद्दाख। लद्दाख व सिक्किम में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास चीनी सैनिकों ने अचानक आक्रामक रवैया अपना लिया है। बीते कुछ दिनों में चीन व भारत के सैनिकों के बीच कई बार तीखी झड़प हुई है। दरअसल, भारत की अपनी सीमा में की जा रही रणनीतिक तैयारियों से चीन तिलमिलाया हुआ है।

 

नाराजगी की मुख्य वजह सीम सड़क संगठन (बीआरओ) की एलएसी तक भारत की ओर से युद्धस्तर पर हो रहे आधारभूत ढांचे का निर्माण है। बीआरओ ने 2018 में 5 वर्षों में करीब 3323 किलोमीटर लंबी 272 सड़ाकें के निर्माण की योजना बनाई है। इनमें रणनीतिक दृष्टि से अहम 61 सड़क योजनाएं भी थीं। बीते करीब ढाई साल में बीआरओ ने इस योजना के तहत 2304 किलोमीटर सड़क का निर्माण किया।

 

सरकारी सूत्रों के मुताबिक चीन के रुख में अचानक आक्रामकता तब आई जब यह निर्माण कार्य रणनीतिक दृष्टि से बेहद अहम जगहों पर पहुंचा। खासतौर से दारबुक श्योक-दौलत बेग ओल्डी रोड पर चीनप ने बार-बार आपत्ति जताई।

 

 फिलहाल पूर्वी लद्दाख के गलवां नाला और पैंगोंग झील के पास फिंगर चार इलाके में निर्माण को लेकर विवाद है। नहीं झुकेगा भारत

चूंकि सड़क योजनाएं रणनीतिक व सामरिक दृष्टि से बेहद अहम हैं, इसलिए भारत, चीन के दबाव में नहीं आएगा। जिस तरह दोकलम में भारत ने चीन की आक्रामकता का जवाब सधी कूटनीति से दिया था, इस बार भी वैसी ही योजना है।

 

हालांकि चीनी सेना के टेंट लगाने के बाद भारत ने एलएसी पर सैनिकों की संख्या में वृद्धि कर चीनी दबाव में न आने का संदेश दे दिया है।

मोदी सरकार ने निर्माण में लाई तेजी

भारत ने एलएसी के इस पार 1962 युद्ध के बाद आधारभूत ढांचा तैयार करने में दिलचस्पी नहीं दिखाई। हालांकि यूपीए-1 और यूपीए-2 के कार्यकाल में भारत ने इस ओर ध्यान देना शुरू किया। इसके बाद आई मोदी सरकार ने इस मोर्चे को गंभीरता से लिया और चीनी सीमा से सटे इलाकों में निर्माण कार्यों में तेजी लाने का फैसला किया। इसी रणनीति के तहत बीआरओ को सड़क निर्माण की अहम जिम्मेदारी दी गई।

दारबुक-श्योक-दौलत बेग ओल्डी सड़क अहम क्यों

भारत ने सामरिक दृष्टि से बेहद अहम दौलत बेग ओल्डी तक करीब 235 किलोमीटर सड़क निर्माण का कार्य लगभग पूरा कर लिया है। दौलत बेग ओल्डी देपसांग पठार के अक्साई चीन के इलाके के पास है। यहां भारत पहले ही एयर बेस बना चुका है। इस एयरबेस पर मालवाहक सी130 और सी17 जहाज को भारत पहले ही लैंड करा चुका है।

अब अपनी सीमा में सभी रणनीतिक इलाकों में सड़कों का भी जाल बिछ जाने के बाद चीन की रणनीतिक बढ़त खत्म हो जाएगी।

ईद पर निरीक्षण कर लिया गया जायजा

आकांशु उपाध्याय

 

गाजियाबाद। ईद पर्व पर शांति सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर डीएम व एसएसपी द्वारा उत्पन्न जनपद के विभिन्न क्षेत्रों का निरीक्षण कर लिया जा रहा है जायजा।

 

COVID-19 कोरोना के दृष्टिगत लाॅकडाउन के सफल क्रियान्वयन व ईद पर्व के दृष्टिगत जनपद में शांति सुरक्षा व्यवस्था हेतु श्रीमान जिलाधिकारी महोदय व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री कलानिधि नैथानी द्वारा आज दिनांक 25/05/20 को जनपद के विभिन्न थाना क्षेत्रों का भ्रमण कर लाॅकडाउन व शान्ति-व्यवस्था की स्थिति का जायजा लिया गया। 

एसएसपी द्वारा सभी क्षेत्राधिकारी, थाना प्रभारी व पुलिसकर्मियों को जनपद में ईद पर्व को शांतिप्रिय रुप से संपन्न कराने,  शांति व्यवस्था बनाए रखने  तथा  विभिन्न, संवेदनशील क्षेत्रों में  निरंतर फ्लैग मार्च / पैदल मार्च करने,  किसी भी दशा में  अनावश्यक रूप से पैदल चलने वाले व्यक्तियों तथा पैदल रिक्शा/ साइकिल पर चलने वाले व्यक्तियों  की आवाजाही पर रोक लगाने  तथा *लाॅकडाउन उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध आवश्यक वैधानिक कार्यवाही* करने हेतु निर्देशित किया गया।

एसपी देहात पर लगाए गंभीर आरोप

एसपी देहात का पूरा समर्थन मनोज धामा को बहुत मोटी रकम देकर कराया सन्नी कुमार मित्रा के खिलाफ मुकदमा

अश्वनी उपाध्याय

गाजियाबाद। देखो रुपया का खेल बहुत बहुत मोटी रकम देकर लोनी बॉर्डर प्रभारी पर एसपी देहात का दबाव कहां सन्नी कुमार मित्रा खिलाफ मुकदमा दर्ज करें।

 

दलित विरोधी हैं एसपी देहात और मनोज धामा

सन्नी कुमार मित्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का पर्दाफाश हुआ। लोनी बॉर्डर प्रभारी ने बताया कि मुझ पर एसपी देहात का दबाव था। इसलिए मुझे मुकदमा लिखना पड़ा। अब आप बताएं कि मनोज धामा ने अलीमुद्दीन जिला मंत्री भाजपा को जान से मारने की धमकी दी। मनोज धामा के खिलाफ कोई मुकदमा दर्ज नहीं किया और भाजपा मीडिया प्रभारी नवाब पहलवान को अपने कार्यालय पर बुलाकर उन्हें जान से मारने की धमकी दी। तो डीजीपी उत्तर प्रदेश एडीजी जोन मेरठ आईजी मेरठ के कहने पर भी मनोज धामा के खिलाफ तब भी कोई मुकदमा दर्ज नहीं हुआ और बजरंग दल के सुमित शर्मा के घर पर मनोज धामा ने हमला कराया। उन पर भी कोई मुकदमा दर्ज नहीं करा। पुलिस ने लोनी बॉर्डर थाने में कुछ समय पहले एक गरीब व्यक्ति को मनोज धामा ने चांटा मारा। तब भी कोई पुलिस ने कार्रवाई नहीं की, और तो और ममता जाटव के साथ इतना घिनौना अपराध किया। उनकी आज तक कोई सुनवाई नहीं की गई। क्या मनोज धामा अपना जोर दलित समाज पर ही चला सकता है और मैं यह सारी घटना प्रदेश अध्यक्ष वह अपने पार्टी के नेतृत्व में रखूंगा। मुझे अभी लगता है कहीं एसपी देहात मनोज धामा दोनों मिलकर  पुलिस के द्वारा मेरी हत्या ना करा दे।


कोरोना के खिलाफ जनजागरण अभियान

 गौतम बुध नगर। कोरोना वायरस के संक्रमण से जनसामान्य को बचाने के लिए जिला प्रशासन की ओर से चलाया जा रहा है जागरूकता कार्यक्रम। कोविड-19 वैश्विक महामारी को दृष्टिगत रखते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण से सभी जनपद वासियों को सुरक्षित करने के लिए कोविड-19 के नोडल अधिकारी नरेंद्र भूषण, पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह तथा जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. के नेतृत्व में अधिकारियों के द्वारा विभिन्न स्तर पर कार्यवाही सुनिश्चित करने के साथ-साथ जनपद में विभिन्न माध्यमों से जागरूकता कार्यक्रम भी संचालित किया जा रहा है ताकि सभी जनपद वासियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित बनाया जा सके। इस श्रृंखला में जिला पंचायत राज अधिकारी कुंवर सिंह यादव एवं उनकी स्वच्छता की के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में निरंतर रूप से मुनादी करते हुए ग्रामीण नागरिकों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित बनाने के लिए स्वच्छता पर विशेष बल तथा सोशल डिस्टेंसिंग एवं मास्क लगाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है ताकि सभी ग्रामीण क्षेत्रों में सभी नागरिक कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव कर सकें। इस कड़ी में विकासखंड दादरी के अंतर्गत ग्राम पंचायत कैमराला चक्रसेनपुर में स्वच्छता टीम के सदस्यों द्वारा मुनादी के द्वारा व्यापक प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया गया। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गौतम बुध नगर।


स्वर्ण पदक विजेता, हॉकी खिलाड़ी का निधन

चंडीगढ़। पिछले दो सप्ताह से कई बीमारियों से जूझ रहे तीन बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता महान हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर का सोमवार को निधन हो गया। 95 वर्षीय बलबीर के परिवार में बेटी सुशबीर और तीन बेटे कंवलबीर, करणबीर और गुरबीर हैं। 
मोहाली के फोर्टिस अस्पताल के निदेशक अभिजीत सिंह ने प्रेस ट्रस्ट को बताया, ”उनका सुबह 6.30 पर निधन हुआ।” बलबीर सीनियर को 8 मई को वहां भर्ती कराया गया था। वह 18 मई से अर्ध चेतन अवस्था में थे और उनके दिमाग में खून का थक्का जम गया था। उन्हें फेफड़ों में निमोनिया और तेज बुखार के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था।
बाद में उनके नाती कबीर ने एक संदेश में कहा, ”नानाजी का सुबह निधन हो गया।” पिछले दो साल में चौथी बार उन्हें अस्पताल में आईसीयू में भर्ती कराया गया । पिछले साल जनवरी में वह फेफड़ों में निमोनिया के कारण तीन महीने अस्पताल में रहे थे।
बता दें कि देश के महानतम एथलीटों में से एक बलबीर सीनियर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा चुने गए आधुनिक ओलंपिक इतिहास के 16 महानतम ओलंपियनों में शामिल थे। हेलसिंकी ओलंपिक फाइनल में नीदरलैंड के खिलाफ पांच गोल का उनका रिकॉर्ड आज भी कायम है। उन्हें 1957 में पद्मश्री से नवाजा गया था।
बलबीर सिंह लंदन ओलंपिक-1948, हेलसिंकी ओलंपिक-1952 और मेलबर्न ओलंपिक-1956 में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे। 1952 ओलंपिक खेलों के स्वर्ण पदक के मैच में बलबीर ने नीदरलैंड्स के खिलाफ पांच गोल किए थे और भारत को 6-1 से जीत दिलाई थी। बलबीर विश्व कप-1971 में कांस्य और विश्व कप-1975 जीतने वाली भारतीय टीम के मुख्य कोच थे।


हवाई यात्राः पोर्टल पर पंजीकरण आवश्यक

रायपुर। कोरोना संकट के बाद लॉकडाउन की वजह से बंद पड़ी हवाई सेवाएं करीब दो महीने बाद आज फिर से शुरु हो गई। एयरपोर्ट पर आज सुबह से ही हलचल नजर आई। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा अन्य राज्यों से घरेलू उड़ानों एवं सामान्य ट्रेनों के माध्यम से छत्तीसगढ़ आ रहे यात्रियों को क्वारेंटीन नियमों का पालन सुनिश्चित कराने विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।


सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा इस संबंध में जारी आदेश में कहा गया है कि अन्य राज्यों से छत्तीसगढ़ लौटने के इच्छुक लोगों को संबंधित राज्य से प्रस्थान करने के पहले उन्हें छत्तीसगढ़ के पोर्टल पर पंजीकृत कराना होगा। जिला कलेक्टर इस सूचना के आधार पर संबंधित ग्राम पंचायत या शहरी वार्ड के नोडल अधिकारी को सूचित करते हुए यात्रियों को होमक्वारेंटीन, शासकीय क्वारेंटीन सेंटर एवं पेड क्वारेंटीन के प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित कराएंगे।


आदेश में कोरोना वायरस की रोकथाम के संबंध में भारत सरकार स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी एसओपी (स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर) का पालन करने कहा गया है। इसके तहत एअरपोर्ट, और रेलवे स्टेशन पर आवश्यक व्यवस्था तथा परिवहन की व्यवस्था और क्वारेंटीन सेंटर की मॉनिटरिंग के निर्देश दिए गए हैं।


आदेश में कहा गया है कि रायपुर नगर निगम कमिश्नर द्वारा एअरपोर्ट अथॉरिटी एवं रायपुर पुलिस के साथ समन्वय स्थापित करते हुए स्वामी विवेकानंद एअरपोर्ट रायपुर में समुचित संख्या में सुविधा केन्द्र स्थापित करेंगे।


इन सुविधा केन्द्रों में आवश्यक स्वास्थ्य परीक्षण हेतु हेल्थ डेस्क भी रहेंगे, जो स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा संचालित किए जाएंगे। स्वामी विवेकानंद एअरपोर्ट रायपुर में लैंडिंग के पश्चात यात्री फ्लाइट से नियंत्रित रूप से बाहर निकलेंगे (एक बैच में 20 यात्री) और हैण्ड बैगेज के साथ सुविधा केन्द्र पहुचेंगे, जहां आवश्यक विवरण दर्ज करने के पश्चात उनकी थर्मल स्क्रीनिंग सहित स्वास्थ्य जांच की जाएगी।


लक्षण के साथ पाए गए यात्रियों को अलग कर एअरपोर्ट पर पृथक से स्थापित किए गए आइसोलेशन कियोस्क में भेजा जाएगा, जहां उनका सैंपल लेकर उन्हें जिला प्रशासन द्वारा स्थापित आइसोलेशन केन्द्र में भेजा दिया जाएगा। ऐसे यात्रियों का चेक-इन बैगेज कन्वेयर बेल्ट से संकलत कर उन्हीं की एम्बुलेंस या डेडिकेटेड वाहन तक पहुंचाने का उत्तरदायित्व संबंधित एयरलाइन के ग्राउंड स्टाफ का होगा।


लक्षणरहित यात्रियों को शासकीय क्वारेंटीन केंद्र, होम क्वारेंटीन, ऐच्छिक आधार पर पेड क्वारेंटीन केन्द्र में भेजा जाएगा। सभी यात्रियों से लिखित में यह अंडरटेकिंग जमा कराई जाएगी कि वे 14 दिन तक क्वारेंटीन के सभी नियमों का कड़ाई से पालन करेंगे। सभी यात्रियों के हैण्डबैगेज, चेकइन बैगेज पर नगर निगम द्वारा कीटाणुनाशक घोल का छिड़काव किया जाएगा।


अपहरण, गैंगरेप के बाद जहर खिलाया

जौनपुर। लॉकडाउन के बीच दुस्साहसिक वारदात को अंजाम दिया गया। एक युवती को अगवा कर चार लोगों ने रेप किया। दरिंदगी करने के बाद उसे जहर खिलाकर भाग निकले। युवती ने घर पहुंचते ही दम तोड़ दिया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। आरोपितों की तलाश की जा रही है।


पंवारा थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाले युवती के पिता के अनुसार चार युवकों ने उसकी बेटी को शनिवार की रात अगवा कर लिया। उसे मुंगराबादशाहपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में ले जाकर चारों ने रेप किया। उसे जान से मारने के लिए जहर खिला दिया और गांव के बाहर छोड़ फरार हो गए। किसी तरह घर के चौखट पर पहुंची बेटी ने घटना के बारे में जानकारी दी।


परिजन तत्काल उसे लेकर सुजानगंज सीएचसी भागे। हालत नाजुक होने पर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। जहां उसकी मौत हो गई। थानाध्यक्ष सैयद हुसैन मुंतजर के अनुसार मामले की छानबीन की जा रही है। युवती के घर आकर विषाक्त पदार्थ खाने की सूचना मिल रही है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मई 26, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-287 (साल-01)
2. मंगलवार, मई 26, 2020
3. शक-1943, ज्येठ, शुक्ल-पक्ष, तिथि- तीज, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:41,सूर्यास्त 07:14।


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-39+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)


नए सीएम भूपेन्द्र के मंत्रिमंडल गठन में साबित हुआ

अकांशु उपाध्याय     नई दिल्ली। भाजपा कहती है कि यह अनुशासनात्मक पार्टी है तो गुजरात में नये मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल के मंत्रिमंडल गठन में...