शनिवार, 29 अक्तूबर 2022

रायपुर: 'दीपावली मिलन' कार्यक्रम धूमधाम से संपन्न 

रायपुर: 'दीपावली मिलन' कार्यक्रम धूमधाम से संपन्न 

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। धरसींवा विधायक अनिता योगेन्द्र शर्मा द्वारा शनिवार को राजधानी से सटे ग्राम गुमा में आयोजित 'दीपावली मिलन' कार्यक्रम धूमधाम से संपन्न हुआ। इस मौके पर विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा द्वारा क्षेत्र वासियो एवं सभी कार्यकर्ताओ एव उनके परिवार को दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए क्षेत्र के उन्नति और विकास की कामना की गई तथा कहा की इस तरह के कार्यक्रम सभी लोगो से सीधे मिलने-जुलने का, सभी के दुख सुख हाल-चाल जानने का बहुत अच्छा जरिया है। अपने उद्बोधन में विधायक ने कहा कि जब युवा पीढ़ी नशे के लत से बाहर निकल कर अपनी ऊर्जा को समाज के अच्छे कार्यो में लगाएगी, तभी सही मायनो में हर घर मे दीपावली आएगी।

अंत मे विधायक ने ग्राम गुमा के समस्त लोगों एवं क्षेत्र के सभी कार्यकर्ताओं को कार्यक्रम सफल बनाने के लोए धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर अंचल के ही कलाकार चंदन बांधे के द्वारा रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति दी गई। सैकड़ों की संख्या में लोगो की उपस्थिति के बीच कार्यक्रम बहुत ही सफल रूप से सम्पन्न हुआ।

इस अवसर पर धरसींवा क्षेत्रान्तर्गत समस्त बूथ सेक्टर जोन प्रभारी, ब्लॉक कॉंग्रेस से समस्त पदाधिकारीगण, निर्वाचित जनप्रतिनिगण ( सरपंच, जनपद सदस्य, जिला पंचायत सदस्य),  महिला कांग्रेस , युवा कांग्रेस, किसान कांग्रेस , मजदूर कांग्रेस, एन एस यू आई , सम्म्मनित वरिष्ठजन,राजीव युवा मितान क्लब से सदस्य गण ,गोठान समिति सदस्य  एवम समस्त कार्यकर्ता उपस्थित थे।

31 को 'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' का दौरा करेंगे पीएम 

31 को 'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' का दौरा करेंगे पीएम 

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/गांधीनगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 31 अक्टूबर को सरदार पटेल जयंती के अवसर पर केवड़िया स्थित स्टेच्यू ऑफ यूनिटी का दौरा करेंगे और सिविल सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों को संबोधित करेंगे। मोदी इस अवसर पर सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे और केवड़िया में आरंभ 2022 कार्यक्रम में मौजूद प्रशिक्षु अधिकारियों को संबोधित भी करेंगे। यह आरंभ कार्यक्रम का चौथा संस्करण है और इस वर्ष की थीम है-‘अमृत काल में सुशासनः डिजिटल टेक्नोलॉजीज, फाउंडेशन टू फ्रंटियर्स। इस वर्ष आरंभ 2022 में ऑल इंडिया सिविल सर्विसेज तथा रॉयल भूटान सिविल सर्विसेज के कुल 455 सिविल सेवा अधिकारी भाग ले रहे हैं।

आरंभ 2022 कार्यक्रम के अंतर्गत केवड़िया में 28 से 30 अक्टूबर के दौरान प्रशिक्षु अधिकारियों के लिए विभिन्न सत्र आयोजित किए जा रहे हैं। इन सत्रों के दौरान विशेषज्ञ विभिन्न विषयों पर संबोधित कर रहे हैं जिसमें भारत अपनी टेक्नोलॉजी के आधार को सुदृढ़ करने और सार्वजनिक सेवाओं की डिलिवरी में सुधार के लिए टेक्नोलॉजी की सीमाओं का पता लगाने के लिए अपनी क्षमता को किस तरह बढ़ाए तथा विभिन्न क्षेत्रों में और केंद्र सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन में टेक्नोलॉजी का उपयोग कैसे हो जैसे विषयों का समावेश होता है। आरंभ कार्यक्रम की शुरुआत 2019 में हुई थी।

हर साल अक्टूबर-दिसंबर महीने के दौरान, देश की सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षा को पास करने वाले युवा सिविल अधिकारी मसूरी स्थित लाल बहादुर शास्त्री नेशनल एकेडमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन में अपना फाउंडेशन कोर्स करते हैं। युवा दिमाग के लिए यह फाउंडेशन कोर्स इस विशाल और विविधतापूर्ण देश में शासन के विचार, चुनौतियां और जिम्मेदारियों के साथ प्रथम परिचय कराता है।इस अकादमी में फाउंडेशन कोर्स में भाग लेने वालों को नेतृत्व, सिविल सेवकों के कौशल, प्रशासन और देश के लिए व्यक्तिगत कौशल एवं विजन का पाठ पढ़ाया जाता है। इन सभी का उद्देश्य प्रशासन को लोगों की जरूरतों के प्रति अधिक जिम्मेदार बनाने का है। साढ़े तीन महीने के इस कोर्स के दौरान बड़ी संख्या में देश और दुनिया के वक्ता, विशेषज्ञ और प्रेरणादायक व्यक्ति लोक प्रशासक के रूप में प्रशिक्षु अधिकारियों के विजन को आकार देने के लिए उनके साथ वार्तालाप करते हैं।

अकादमी की सीमित क्षमता के कारण फाउंडेशन कोर्स अब तक मसूरी सहित दो से तीन अन्य प्रशिक्षण संस्थानों में एक साथ चलाया जाता था। फाउंडेशन कोर्स के दौरान सभी सेवाओं को एक साथ लाने तथा सिविल सेवकों के करियर क शुरुआत से ही सभी विभागों एवं सेवाओं को एकीकृत करने के विजन के साथ, ऑल इंडिया सिविल सर्विस, ग्रुप-ए सेंट्रल सर्विस और फॉरेन सर्विस के सभी प्रशिक्षुओं के लिए 2019 में पहली बार कॉमन फाउंडेशन कोर्स (सीएफसी) शुरू किया गया था।

इस पहल को आरंभ नाम दिया गया था। आरंभ नामक यह कॉमन फाउंडेशन कोर्स वर्ष 2019 में फाउंडेशन कोर्स के एक भाग के रूप में सिविल सेवकों को परिवर्तन का नेतृत्व करने और विभागों एवं क्षेत्रों में एकीकृत तरीके से कार्य करने में सक्षम बनाने के विजन के साथ प्रारंभ किया गया था। इस कार्यक्रम में विश्वस्तरीय संस्थानों के विशेषज्ञों की मदद से बदलती तकनीक और शासन के लिए इसकी संभावनाओं को समझने के लिए गुजरात के केवड़िया में 425 प्रशिक्षु अधिकारी एक सप्ताह के लिए शामिल हुए थे। इस कार्यक्रम की थीम ‘सिविल सेवकों को भविष्य के लिए तैयार करना पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था की दिशा में आगे बढ़ना’ थी। इस पूरे प्रयोग का प्रधानमंत्री के समक्ष प्रेजेंटेशन किया गया। इसके बाद श्री मोदी ने प्रशिक्षु अधिकारियों को संबोधित किया और उनके साथ बातचीत भी की थी।

इस्लामिया ने अपनी स्थापना के 102 साल पूरे किए 

इस्लामिया ने अपनी स्थापना के 102 साल पूरे किए 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। स्वतंत्रता संग्राम और असहयोग आंदोलन से जन्मी संस्था जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने शनिवार को अपनी स्थापना के 102 साल पूरे कर लियें। विश्वविद्यालय के एनसीसी कैडेट्स ने समारोह के मुख्य अतिथि डॉ सुभाष सरकार, माननीय शिक्षा राज्य मंत्री, भारत सरकार, जामिया की कुलपति प्रो. नजमा अख्तर और समारोह के विशिष्ट अतिथि डॉ उपेंद्र गिरि, संस्थापक और सीईओ, अपबिल्ड ग्लोबल इंक, कैलिफ़ोर्निया, यूएसए को एक शानदार गार्ड ऑफ ऑनर दिया।

स्थापना दिवस समारोह का उद्घाटन समारोह आज विश्वविद्यालय के डॉ. एम ए अंसारी सभागार के लॉन में कुलपति प्रो. नजमा अख्तर द्वारा जामिया का झंडा फहराने के साथ शुरू हुआ और छात्रों द्वारा 'ये जामिया का परचम' गीत गाया गया। डॉ. सुभाष सरकार ने अपने संबोधन की शुरुआत टीचिंग और नॉन-टीचिंग बिरादरी, छात्रों, पूर्व छात्रों और सभी हितधारकों को बधाई देकर की। “अपनी स्थापना के बाद से, विश्वविद्यालय ने बेशुमार उपलब्धियाँ हासिल की हैं, जो देश के लिए यादगार और महत्वपूर्ण रहेंगी। मैं आप सभी को बधाई देता हूं, यह बहुत गर्व की बात है कि संस्थान ने एक और उपलब्धि हासिल है”, उन्होंने कहा।

माननीय मंत्री ने आगे कहा कि जामिया भारत के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में से एक है। छात्र, शोधार्थी और शिक्षक अध्ययन, शिक्षण, अनुसंधान और अन्य शैक्षणिक गतिविधियों में लगातार उत्कृष्ट रहे हैं। उन्होंने कहा, "मैं इस अवसर पर कुलपति प्रोफेसर नजमा अख्तर के प्रयासों की सराहना करता हूं, जो विश्वविद्यालय की बेहतरी और उत्कृष्टता के लिए कुशलतापूर्वक काम कर रही हैं।"

जामिया की कुलपति प्रो नजमा अख्तर ने पिछले कुछ वर्षों में विश्वविद्यालय की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय सरकार से अपील करता है कि एक मेडिकल और नर्सिंग कॉलेज की स्थापना के लिए मंजूरी दी जाए जो न केवल इस क्षेत्र के लिए बल्कि नोएडा जैसे आसपास के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए भी उपयोगी होगा। जामिया ने हमेशा प्रगतिशीलता, ज्ञान, विविधता में एकता की शिक्षा दी है। विश्वविद्यालय हमेशा सहअस्तित्व और देशभक्ति की बात करता है। हम राष्ट्र निर्माण और समाज पर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार और सम्मेलन आयोजित करते रहे हैं और हमने इन सपनों को साकार करने में हमेशा अपनी विशिष्ट भूमिका निभाई है। ”कुलपति ने कहा।

सभागार के अंदर जामिया तराना के गायन के साथ समारोह की शुरुआत हुई, जिसके बाद मुख्य अतिथि और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का अभिनंदन किया गया। प्रो. फरहत नसरीन, इतिहास और संस्कृति विभाग, जामिया, सुश्री मिर्जा शाइना बेग और श्री नवी हसन, विश्वविद्यालय के छात्रों ने शानदार इतिहास और जामिया की 102 साल की यात्रा पर अपने ओजपूर्ण भाषणों से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

माननीय मंत्री और कुलपति ने विश्वविद्यालय के 21 शोधकर्ताओं को सम्मानित किया, जिन्हें स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय की शीर्ष 2% वैज्ञानिकों की प्रतिष्ठित वैश्विक सूची में शामिल किया गया था। इस अवसर पर हाल ही में प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप (पीएमआरएफ) के लिए चयनित विश्वविद्यालय के बारह शोध विद्वानों, यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा पास करने वाले आवासीय कोचिंग अकादमी (आरसीए), जेएमआई के सफल छात्रों और हाल ही में विज़िटर पुरस्कार प्राप्त करने वाले प्रो जाहिद अशरफ को भी इस अवसर पर सम्मानित किया गया।

समारोह के विशिष्ट अतिथि डॉ उपेंद्र गिरि ने कहा, "पिछले 102 वर्षों में जामिया की उपलब्धियों के बारे में जानकर मुझे गर्व महसूस हो रहा है और मैं इस संस्थान का पूर्व छात्र होने के कारण पुरानी यादों में भी जा रहा हूं।" अपने ऊर्जावान संबोधन से उन्होंने सभी को विश्वविद्यालय को और अधिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित किया।

प्रो. नाजिम हुसैन जाफरी, रजिस्ट्रार, जामिया ने धन्यवाद ज्ञापित किया और इसके बाद सभा द्वारा राष्ट्रगान गाया गया। दूसरे हाफ में सभागार में कई सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन किया गया। श्री रामचंदर जांगड़ा, राज्यसभा सांसद, हरियाणा और प्रो. असीम अली खान, महानिदेशक, सीसीआरयूएम, भारत सरकार, कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। डीन छात्र कल्याण प्रो. इब्राहिम और उनकी टीम, एनएसएस स्वयंसेवकों और एनसीसी कैडेटों ने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत की।

अटैचमेंट के बगैर फसलों की कटाई नहीं की जाएगी

अटैचमेंट के बगैर फसलों की कटाई नहीं की जाएगी


डीएम ने फसल कटाई के दौरान प्रयोग की जाने वाली कम्बाइन हार्वेस्टर के प्रयोग के संबंध में दिया आवश्यक निर्देश

फसल अवशेष/पराली को जलाये जाने वाली घटनाओं के रोकथाम हेतु तहसीलवार एवं विकास खण्डवार उडनदस्तों का किया गठन

हरिशंकर त्रिपाठी

देवरिया। जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने बताया है कि फसल कटाई के दौरान प्रयोग की जाने वाली कम्बाइन हार्वेस्टर के साथ सुपर स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम अथवा स्ट्रारीपर, स्ट्रारेक व बेलर, मल्चर, सुपर सीडर, पैडी स्ट्रा चापर, श्रव मास्टर, रोटरी श्लेसर रिवर्सिबुल एम०बी०प्लाउ का भी उपयोग कम्बाइन हार्वेस्टर के साथ किया जाना अनिवार्य होगा, तथा यदि कोई भी कम्बाईन हार्वेस्टर सुपर स्ट्रा मैनेजमेन्ट सिस्टम, स्ट्रारीपर अथवा स्ट्रारेक एवं बैलर के बिना चलती हुई पायी जाती है तो उसे तत्काल सीज (जब्त) की कार्यवाही की जायेगी तथा कम्बाईन स्वामी के व्यय पर ही सुपर स्ट्रा मैनेजमेन्ट सिस्टम लगवाने के उपरान्त ही छोड़ी जाएं।

जिलाधिकारी ने कम्बाईन स्वामियों को निर्देशित किया है कि एक सप्ताह के अन्दर उप कृषि निदेशक देवरिया के कार्यालय में उपस्थित होकर इस आशय का लिखित शपथ पत्र (मय फोटोग्राफ) प्रस्तुत करते हुये कृषि विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त कर लें कि उनके द्वारा अपने कम्बाईन हार्वेस्टर में उपरोक्तानुसार आपेक्षित अटैचमेंट लगवा लिया है तथा उपरोक्त अटैचमेंट के बगैर फसलों की कटाई नहीं की जाएगी। यदि निर्धारित अवधि सक्षम अधिकारी/उप कृषि निदेशक देवरिया के समक्ष शपथ पत्र प्रस्तुत नहीं किया जाता है तो यह माना जायेगा कि वर्तमान में कम्बाईन हार्वेस्टर का प्रयोग नही कर रहे है। ऐसी स्थिति में यदि अपेक्षित अटैयमेन्ट के बगैर ही कम्बाइन हार्वेस्टर से फसलों की कटाई करते हुये पाया जाता है तो कम्बाइन हार्वेस्टर को सीज (जब्त करते हुये तहसील / थाना द्वारा तदविषयक प्राथमिकी दर्ज कराते हुए मा० राष्ट्रीय हरित अभिकरण की गाइडलाइन के अनुसार विधिक एवं दण्डात्मक कार्यवाही हेतु न्यायालय में वाद प्रस्तुत किया जाएगा।

जिलाधिकारी ने तहसीलवार एवं विकास खण्डवार उडनदस्तों का किया गठन

जिलाधिकारी ने फसल अवशेष/पराली को जलाये जाने वाली घटनाओं के रोकथाम हेतु प्रत्येक विकास खण्ड/तहसील स्तर पर उडन दस्ता गठित किया है। तहसील स्तरीय सचल दस्ता हेतु संबंधित तहसील के उप जिलाधिकारी को पर्यवेक्षीय अधिकारी नामित किया गया है। सचल दस्ते हेतु संबंधित तहसील के तहसीलदार, उप सम्भागीय कृषि प्रसार अधिकारी तथा थानाध्यक्ष (संबंधित तहसील मुख्यालय) को अधिकारी नामित किया गया है। विकास खण्ड स्तरीय सचल दस्ते हेतु संबंधित विकास खंड के खंड विकास अधिकारी को पर्यवेक्षीय अधिकारी नामित किया गया है। नायब तहसीलदार/कानूनगो, सहायक विकास अधिकारी(कृषि) एवं थानाध्यक्ष को सचल दस्ते हेतु अधिकारी नामित किया गया है।

जिलाधिकारी ने उक्त प्रयोजनार्थ प्रत्येक तहसील एंव विकास खण्ड के समस्त लेखपाल, कृषि विभाग के क्षेत्रीय कार्मिक एवं ग्राम प्रधानों को सम्मिलित करते हुए एक व्हाटसअप ग्रुप बनाने का निर्देश दिया है तथा उस क्षेत्र में कही भी फसल अवशेष जलाये जाने की घटना होने पर अथवा घटना की सूचना मिलने पर सम्बन्धित लेखपाल / ग्राम प्रधान व्हाटसअप ग्रुप एवं दूरभाष के माध्यम से सम्बन्धित तहसील / विकास खण्ड स्तर पर गठित उडन दस्ते को तत्काल इसकी सूचना दी जाय। पराली / कृषि अपशिष्ट जलाये जाने की घटना की पुष्टि होने पर सम्बन्धित कृषक को दण्डित करने तथा क्षतिपूर्ति की वसूली के सम्बन्ध में त्वरित कार्यवाही सुनिश्चित की जाय, प्रत्येक गाँव में ग्राम प्रधान एवं क्षेत्रिय लेखपाल को यह भी निर्देशित किया जाय कि किसी भी दशा में उनके क्षेत्र में पराली / फसल अवशेष जलाया न जाय किसी भी क्षेत्र में फसल अवशेष जलाने की घटना प्रकाश में आने पर सम्बन्धित लेखपाल जिम्मेदार होगें। यह भी सुनिश्चित किया जाय कि फसल कटाई के दौरान प्रयोग की जाने वाली कम्बाईन हार्वेस्टर के साथ सुपर स्ट्रा मैनेजमेन्ट सिस्टम अथवा स्ट्रा रीपर/ स्ट्रा रेक / बेलर / मल्चर / पैडी स्ट्रा चापर / रोस्टरी स्लेशर / रिवर्सिबल एम0बी0 प्लाऊ या सुपर सीडर का प्रयोग अनिवार्य रूप से किया जाय तथा ऐसा न करने सम्बन्धित कम्बाईन हार्वेस्टर को सीज (जब्त कर लिया जाए। सहायक विकास अधिकारी (कृषि) / कृषि रक्षा द्वारा खण्ड विकास अधिकारी तथा सहायक विकास अधिकारी (पंचायत) के माध्यम से ग्राम प्रधानों से समन्वय करके प्रत्येक ग्राम पंचायत की खुली बैठक आयोजित कराकर फसल अवशेष प्रबन्धन के उपायों फसल अवशेष प्रबन्धन से सम्बन्धित कृषि यत्रं व उन पर अनुमन्य अनुदान तथा पराली जलाने माननीय राष्ट्रिय हरित अभिकरण द्वारा निर्धारित दण्डात्मक प्राविधानों पर चर्चा करके कृषकों को पराली जलाने के स्थान पर फसल अवशेष के लाभकारी उपयोग के उपायों को अपनाने हेतु प्रेरित किया जायेगा तथा कृत कार्यवाही की सूचना जिला कृषि अधिकारी को प्रेषित किया जाएगा।

एडीएम वित्त की अध्यक्षता में पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति का आरोपण एवं वसूली की प्रक्रिया के संबंध में हुई समीक्षा बैठक

अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व की अध्यक्षता में जनपद स्तर पर कृषि अपशिष्टों को जलाये जाने पर निषेध के उलंघन पर पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति का आरोपण एवं वसूली की प्रक्रिया के संबंध में समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया , जिसमें राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण नई दिल्ली द्वारा पारित आदेशों के अनुपालन में कृषि अपशिष्ट को जलाए जाने पर निषेध के उल्लंघन पर पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति का आरोप एवं वसूली की प्रक्रिया के संबंध में विस्तृत दिशा निर्देश देते हुए अपर जिला अधिकारी नागेंद्र कुमार सिंह ने स्पष्ट दिशा निर्देश देते हुए बताया कि यदि किसी कृषकों द्वारा फसल के अपशिष्ट को जलाया जाएगा तो उसके खिलाफ नियमों के तहत विधिक कार्यवाही की जाएगी । जिसमें कृषकों द्वारा 2 एकड़ से कम भूमि वाले किसानों को 2500 रुपये प्रति घटना एवं 2 से 5 एकड़ भूमि रखने वाले लघु कृषकों के लिए 5000 प्रति घटना तथा 5 एकड़ से अधिक भूमि रखने वाले बड़े कृषकों के लिए ₹15000 प्रति घटना के हिसाब से पर्यावरणीय क्षतिपूर्ति के रूप में दंडित किया जाएगा।

कृषि विभाग एवं राजस्व विभाग के ग्राम पंचायत एवं न्याय पंचायत पर कार्यरत कर्मचारियों को निर्देशित किया गया कि वह अपने-अपने क्षेत्रों में भ्रमण कर नियमित रिपोर्ट तहसील के माध्यम से जनपद स्तर पर उपलब्ध कराएंगे की किन-किन गांव में पर्यावरणीय क्षति का कृत्य किया गया है । उन्होंने प्रचार-प्रसार के माध्यम से लोगों को जागरूक करने हेतु कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए बताया कि गांव गांव में प्रचार-प्रसार व्यापक रूप से कराया जाए कि कोई भी व्यक्ति फसल का अपशिष्ट न जलाये जिससे पर्यावरण सुरक्षित रहे एवं जनजीवन प्रभावित न हो। बैठक में मुख्य रूप से डीडी एग्रीकल्चर एवं कृषि विभाग के अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

देवोत्थानी एकादशी: शादियों का मुहूर्त 24 से शुरू होगा

देवोत्थानी एकादशी: शादियों का मुहूर्त 24 से शुरू होगा

सरस्वती उपाध्याय 

10 जुलाई को हरि शयनी एकादशी से बंद चल रही शादियां एक बार फिर शुरू होंगी। 4 नवंबर को देवोत्थानी एकादशी के साथ ही सहालग शुरू हो जाएगी, लेकिन शादियों का मुहूर्त 24 नवंबर से शुरू होगा। इसे लेकर बाजार में भी तैयारियां शुरू हो गई हैं। आचार्य शक्तिधर त्रिपाठी ने बताया कि देवताओं के जागने के बाद ही शादियां होंगी। 20 तक शुक्रास्त के चलते शादियां नहीं होंगी। 24 से शुरुआत होगी। ऐसा शायद ही कोई इलाका बचेगा जहां बैंड बाजे की धुन पर बराती थिरकते नजर न आएं।

शहर के होटल व रेस्टोरेंट, शादी घरों की बुकिंग फुल हो चुकी है। सहालग के लिए शहर के छोटे बैंड वालों के पास दो से पांच और बड़े बैंड वालों के पास छह से आठ बुकिंग है। अशोक मार्ग के बैंड मास्टर गौरव ने बताया कि लखनऊ में करीब 300 से 400 छोटे बड़े बैंड वाले हैं। सभी के पास बुकिंग है। दो साल के कोरोना काल के बाद बुकिंग में तेजी आएगी।

होटल रेस्टोरेंट की बुकिंग फुलः शहर के करीब 150 बड़े होटल व रेस्टोरेंट में बुकिंग हुई है। इलाकाई शादी घर भी बुक हो चुके हैं। लखनऊ होटल एवं रेस्टोरेंट एसोसिएशन के उपाध्यक्ष श्याम कृष्नानी ने बताया कि सहालग में इसबार अच्छा कारोबार होने की उम्मीद है।

एक टेंट वाले के पास चार से पांच बुकिंगः ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों को मिलाकर शादियों की धूम होगी। आदर्श कैटर्स लाइल डेकाेरोरेटर एसाेसिएशन के अध्यक्ष विजय कुमार ने बताया कि सहालग में सभी टेंट हाउस के पास कई बुकिंग है। हनुमान सेतु के फूल के कारोबारी कल्लू ने बताया कि सजावट के लिए बुकिंग मिल गईं हैं। शादी के वाहन के साथ ही मंडप सजाने वालों के चेहरे भी खिल उठे हैं। इस बार पूरे शहर में शादियों की धूम है।

खास मुहूर्त पर शादी करने का चलनः आचार्य एसएस नागपाल ने बताया कि शुक्रास्त की मान्यता के चलते लोगों ने शादियां नहीं कीं। शुभ कार्य भी नहीं हुए। सात जन्मों तक रिश्तों को जोड़ने की शादी की मान्यता होने और सुख वैवाहिक जीवन के लिए लोग अच्छे दिनों में ही शादियों का प्लान बनाते हैं। आचार्य आनंद दुबे ने बताया कि शादियों का शुभ मुहूर्त है। शुभ लग्न होने के कारण शादियों की धूम होगी।

चमगादड़ों का गायब होना कुछ समय के लिए होता है

चमगादड़ों का गायब होना कुछ समय के लिए होता है 

सुनील श्रीवास्तव 

बर्नाबी/ओटावा आगामी महीनों में शाम के समय आकाश में केवल कुछ चमगादड़ ही घूमते दिखेंगे। सालभर में यही वह समय होता है, जब चमगादड़ों की कुछ प्रजातियां नजरों से ओझल हो जाती हैं। सर्दी के इस मौसम में वे चट्टानों की संकरी दरारों या गुफाओं में आराम करते हैं। अच्छी बात यह है कि चमगादड़ों का इस तरह गायब होना कुछ समय के लिए होता है।

चमगादड़ स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। वे पर्यावरण में पोषक तत्वों के प्रसार और पौधों के परागण में मददगार साबित होते हैं। वे कीटों को भी खाते हैं, जिससे खेती में कीटनाशकों की आवश्यकता कम हो जाती है। चमगादड़ हमारे पारिस्थितिक तंत्र को बहुत अधिक फायदा पहुंचाते हैं। चूंकि वे अंधेरे में अपनी गतिविधियां करते हैं, इसलिए हम उनकी तरफ से मिलने वाली मदद से अकसर अवगत नहीं होते।

चमगादड़ों के आश्रय स्थान पर खतरा
मौसमी तौर पर चमगादड़ों के गायब होने से ज्यादा चिंताजनक बात यह है कि दशकों से उत्तरी अमेरिका में चमगादड़ों की आबादी में गिरावट देखी जा रही है। वनों की कटाई से उनका आश्रय स्थल घटना, शहरीकरण और कृषि भूमि के विस्तार से चमगादड़ों के लिए उपयुक्त जगह की कमी होती जा रही है। साथ ही, फसलों पर कीटनाशकों के छिड़काव के कारण बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत भी हो जाती है।

हालांकि, चमगादड़ों की मुश्किलें यहीं खत्म नहीं होती, बल्कि फंगस (कवक) और ‘स्यूडोगाइमनोस्कस’ के कारण ‘व्हाइट नोज सिंड्रोम’ फैलता है। इस घातक फंगस के कारण उत्तर अमेरिका में 60 लाख से अधिक चमगादड़ों की जान जा चुकी है। पूर्वी कनाडा में ‘व्हाइट नोज सिंड्रोम’ विशेष रूप से विनाशकारी साबित हुआ है, जहां इसके कारण भूरे रंग के छोटे मायोटिस (मायोटिस ल्यूसिफुगस) और नॉर्दर्न मायोटिस (मायोटिस सेप्टेंट्रियोनालिस) की आबादी में 90 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आई है।

फंगस का प्रकोप पश्चिमी देशों में भी बढ़ रहा है, जहां जुलाई में सस्केचेवान में इसका पहला मामला सामने आया था। ‘व्हाइट नोज सिंड्रोम’ ब्रिटिश कोलंबिया में नहीं पाया गया है, लेकिन इसका खतरा मंडरा रहा है। हमारी शोध टीम कनाडाई वन्यजीव स्वास्थ्य सहकारी विभाग की ब्रिटिश कोलंबिया इकाई में एक दशक से अधिक समय से वन्यजीव स्वास्थ्य पर काम कर रही है।

ब्रिटिश कोलंबिया में रहने वाले चमगादड़ों की 15 प्रजातियों के सामने आने वाले खतरों को समझने के लिए, हमने 2015 और 2020 के बीच मारे गए 275 चमगादड़ों पर अध्ययन किया। हमने पाया कि मृत्यु के सबसे सामान्य कारण मानव गतिविधि से जुड़ा है। यह जानकारी इस समय शहरीकरण और जलवायु परिवर्तन के बीच चमगादड़ों की आबादी का पता लगाने में हमारी मदद कर सकती है। चमगादड़ की जान बचाने के लिए हमें यह जानना होगा कि उनकी मौत कैसे होती है।

जानलेवा बिल्लियां
हमने जिन चमगादड़ों पर अध्ययन किया, उनमें से एक चौथाई की जान बिल्लियों ने ली थी। यह कोई चौंकाने वाली बात नहीं है- पालतू बिल्लियां वन्यजीवों की जान लेने के मामले में कुख्यात होती हैं। ऑस्ट्रेलिया में, एक अनुमान के मुताबिक आजाद घूमती पालतू बिल्लियां हर साल 39 करोड़ जंतुओं को मार डालती हैं। ये बिल्लियां न केवल चमगादड़ों के लिए बल्कि जैव विविधता के लिए भी खतरा पैदा करती हैं। आइसलैंड के कुछ शहरों ने अपने यहां पक्षियों की घटती आबादी को बचाने के लिए ‘कैट कर्फ्यू’ लागू किया है। ऐसे में चमगादड़ों और अन्य पक्षियों की जान बचाने का सबसे आसान उपाय पालतू बिल्लियों को घर के अंदर रखना और उनके बाहर घूमने पर नजर रखना है। बिल्लियां अपने शिकार का लगभग 20 प्रतिशत ही घर लाती हैं, इसलिए मालिकों को अपनी बिल्ली द्वारा किये जाने वाले शिकार की आदतों के बारे में पता नहीं होता।

हालिया शोध बताते हैं कि वन क्षेत्रों के पास ये क्रियाएं सबसे महत्वपूर्ण हैं। शोध में पाया गया है कि बिल्लियां जंगलों में 500 मीटर में ही वन्यजीवों का शिकार करती हैं। वन्य क्षेत्रों के पास रहने वाली बिल्लियों पर ध्यान केंद्रित करके वन्यजीवों पर मंडराने वाले खतरे को कम किया जा सकता है। बिल्लियों को घरों के अंदर रखना खुद उनके लिए भी फायदेमंद होता है। घर के अंदर रहने वाली बिल्लियों का जीवनकाल बाहर विचरण करने वाली बिल्लियों की तुलना में कहीं अधिक होता है।

हमारे अध्ययन के अनुसार आधे चमगादड़ों की मौत मानव गतिविधियों के कारण हुई। हमारे अध्ययन में शामिल अधिकांश चमगादड़ (90 प्रतिशत) ‘सिनथ्रोपिक प्रजाति’ के थे, जो मनुष्य के बीच रहते हैं। अध्ययन में पता चला है कि 25 प्रतिशत चमगादड़ों की मौत इंसान के इस्तेमाल में आने वाली चीजों जैसे कारों या इमारतों से टकराने के कारण हुईं। दिलचस्प बात यह है कि इस तरह से मरने वाले चमगादड़ों में ज्यादातर के नर होने की संभावना है। पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है कि ऐसा क्यों है, लेकिन शोध से पता चलता है कि नर चमगादड़ मादा चमगादड़ों की तुलना में दूर तक उड़ान भर सकते हैं, जिससे इनके वाहन या इमारतों से टकराने की आशंका बढ़ जाती है।

एक अधूरी तस्वीर
वन्य जीवन का अध्ययन आसान नहीं है। गुफाओं से लेकर खलिहान और खलिहान से लेकर अटारी तक कई अलग-अलग जगहों पर चमगादड़ रहते हैं, और वैज्ञानिक हर समय सभी जगहों पर चमगादड़ों की निगरानी नहीं कर सकते। लोगों की तरफ से मिली सूचना चमगादड़ों के बारे में जानकारी एकत्र करने और इनकी स्थानीय आबादी के स्वास्थ्य को समझने में हमारी मदद करती है।

देश-प्रदेश में मोदी व योगी के आने से परिवर्तन: शर्मा 

देश-प्रदेश में मोदी व योगी के आने से परिवर्तन: शर्मा 

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर जिले के खतौली के गांव शाहपुर में हुए संत सम्मेलन में शनिवार को प्रदेश के पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं विधान परिषद के सदस्य डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि देश और प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व योगी आदित्यनाथ के आने से परिवर्तन हो रहा है। खेत खलियान से लेकर बहन बेटियों की सुरक्षा व किसान भी समृद्धशाली बन रहा है।

हिंदू धर्म को मानने वाले प्रत्येक व्यक्ति की सदा भावना सबको साथ जोड़कर चलने की रही है। यही हमारी भारतीय संस्कृति की पहचान भी है। हमारा काम काटो और बांटो वाली पछताए संस्कृति का नहीं है। प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि संतों ने सदा देश को नई दिशा देने का काम किया है। उन्होंने अपने संबोधन में मुजफ्फरनगर दंगा का भी जिक्र कर लोगों को भावनात्मक रूप से जोडकर सरकार की उपलब्धियां और कानून सुरक्षा का अहसास दिलाया। कहां की सड़क बिजली पानी और खेत खलियान भी समृद्ध साली बनकर देश प्रदेश की उन्नति में भागीदार बन रहे हैं।

पूर्व उपमुख्यमंत्री ने देश प्रदेश की सरकार की उपलब्धि के साथ सद्भावना व एकता के नारे को भी बुलंद किया कहां की वर्तमान की सरकार सबका साथ सबका विकास वाले नारे को केवल जुबान से बोलती ही नहीं उसे साकार भी करती हैं। कहा कि प्रत्येक हिंदुत्व की भावना रखने वाले व्यक्ति को यह हमेशा ध्यान रखना होगा, कि वह आरती करने वाले हाथों के साथ पांच वक्त की अजान देने वाले मौलवी का भी अपने धर्म के जितना ही सम्मान करें। प्रदेश के पूर्व उपमुख्यमंत्री डा दिनेश ने कहा कि देश में अग्निवीर भर्ती से युवाओं को रोजगार मिला है वहीं प्रदेश सरकार ने भी एक उत्पाद एक जनपद के तहत लगभग पांच लाख से अधिक युवाओं को रोजगार देने का काम किया है।

8 अलग-अलग पुरुषों से 11 बच्चों को जन्म दिया

8 अलग-अलग पुरुषों से 11 बच्चों को जन्म दिया

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 

वाशिंगटन डीसी। एक महिला ने अपने 11 बच्चों के बारे में एक खुलासा कर के सोशल मीडिया पर लोगों को चौंका दिया है। महिला ने बताया कि उन्होंने 8 अलग-अलग पुरुषों से 11 बच्चों को जन्म दिया है। महिला ने वीडियो जारी कर यह भी बताया है कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया? महिला का नाम फाई है। वह अमेरिका के मेम्फिस की रहनेवाली हैं। टिकटॉक पर महिला के 90 हजार से ज्यादा फॉलोअर्स हैं। वह बच्चों के साथ मस्ती करते हुए वीडियोज शेयर करती रहती हैं। हालांकि, 11 बच्चों की वजह से पुरुष उन्हें ट्रोल करते हैं। वे लोग कहते हैं कि उनसे कोई शादी नहीं करेगा।

महिला ने एक वीडियो जारी कर यह भी बताया कि उन्होंने आखिर 8 अलग-अलग पुरुषों के बच्चों को जन्म क्यों दिया? उन्होंने कहा कि यह बहुत सिंपल है। यह सब मैथ्स की बात है। फाई ने कहा- अगर मेरे बच्चों के सिर्फ एक ही पिता होते और वह छोड़ जाते या उनकी मौत हो जाती तो बच्चों को बिना पिता के ही जीना होता। लेकिन अगर मेरे पास 8 हैं और मान लीजिए इनमें से 3 छोड़ के भी जाते हैं या उनकी मौत भी हो जाती है तो फिर भी मेरे बच्चों के पास 5 पिता होंगे।

वीडियो के कैप्शन में फाई ने लिखा- यह सबकुछ मैथ्य है। फाई ने व्यूअर्स को आगे बताया कि वह जल्द रुकनेवाली भी नहीं हैं। उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा कि वह सिर्फ 11 बच्चों से संतुष्ट नहीं हैं। वह आगे भी बच्चों को जन्म देती रहेंगी। महिला ने कहा- मैं 19 और बच्चों को जन्म देना चाहती हूं, ताकि मैं 30 के आंकड़े को छू सकूं। महिला बच्चों के पिता के लिए आगे किसे चुनेंगी इसके लिए भी उन्होंने अलग-अलग क्राइटेरिया तैयार कर रखा है।

महिला की बातों को सुनकर बहुत सारे लोग उन्हें ट्रोल करते भी दिखे, जिसके जवाब में फाई ने कहा- आपलोग ऐसी बातें कर रहे हैं, जैसे मैंने कोई अपराध किया हो। हालांकि, कई लोग फाई को सपोर्ट करते भी दिखे। एक यूजर ने लिखा- मेरी मां के 9 पुरुषों के साथ रिश्ते रहे हैं। हमलोग बस यही मानते हैं कि उन्हें 9 बार प्यार हुआ था।

ठाकुर ने केजरीवाल को 'अराजकता का प्रतीक’ बताया

ठाकुर ने केजरीवाल को 'अराजकता का प्रतीक’ बताया

अकांशु उपाध्याय/श्रीराम मौर्य/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/शिमला। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने शनिवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए उन्हें ‘अराजकता का प्रतीक’ बताया। सूचना और प्रसारण मंत्री ठाकुर केजरीवाल की अपील के बारे में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक सवाल का जवाब दे रहे थे, जिसमें उन्होंने नोटों पर देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की तस्वीरों को शामिल करने की अपील की थी।

अनुराग ठाकुर ने कहा, ‘अरविंद केजरीवाल जो (भव्य) राम मंदिर के निर्माण का विरोध करते थे, अराजकता का प्रतीक हैं। वह फर्जी बात करते हैं। वह लोगों का ध्यान अपनी फर्जी बातों से हटाने के लिए इस तरह का हथकंडा अपना रहे हैं।’ केंद्रीय मंत्री ने आम आदमी पार्टी (आप) के सुप्रीमो केजरीवाल से पूछा कि क्या उनकी सरकार दिल्ली में मौलवियों की तर्ज पर मंदिर के पुजारियों, गुरुद्वारा के ग्रंथियों और चर्च के पादरियों को 18,000 रुपये देगी।

हिमाचल प्रदेश में जय राम ठाकुर के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत सरकार के खिलाफ कांग्रेस के ‘आरोपपत्र’ के बारे में ठाकुर ने कहा, ‘जिनका राष्ट्रीय नेतृत्व जमानत पर है, उन्हें दूसरों के खिलाफ ‘आरोप-पत्र’ जारी करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।’ उन्होंने आगे कहा कि ‘डबल इंजन’ सरकार ने हिमाचल प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए हैं और विकास की गति को आगे बढ़ाने के लिए भाजपा नीत सरकार का फिर से सत्ता में आना आवश्यक है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ‘‘डबल इंजन सरकार की ताकत हर क्षेत्र में दिख रही है।

'प्रदूषण' के प्रभाव से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

'प्रदूषण' के प्रभाव से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स 

दिवाली के बाद से देश की राजधानी दिल्ली सहित कई शहरों की आवो हवा खराब हो चुकी है। दिल्ली में तो आज प्रदूषण का लेवल ‘बेहद खराब’ श्रेणी में पहुंच गया। वायु प्रदूषण की वजह से अस्थमा रोगी, बुजुर्ग और बच्चों की समस्या काफी बढ़ जाती है। जहरीली हवा जहां हमारे फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। वहीं इसकी वजह से आंखों में भी जलन रहती है। प्रदूषण से लोग स्किन की परेशानियों से भी जूझ रहे हैं। प्रदूषण से बचने के लिए राज्य सरकारें कई रास्ते खोज रही है। लेकिन आप अपने स्तर पर कोशिश कर के भी प्रदूषण के प्रभाव से बच सकता है। अपने खानपान में सुधार कर के भी प्रदूषण के प्रभाव से बचा जा सकता है। इसके लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं बस नीचे दी गई चीजों को फॉलो करना होगा।

काली मिर्च और अदरक
अगर इम्यूनिटी मजबूत रहेगा तो हमारा शरीर हर बीमारी से बच सकता है। इसलिए इसे मजबूत करने के लिए अदरक का रस और काली मिर्च पाउडर का सेवन कर सकते हैं। काली मिर्च ऐसे खाएंगे तो तीखी लगेगी इसलिए शहद के साथ मिलाकर खाएं। वहीं अदरक के रस को भी शहद के साथ खाया जा सकता है।

इन फलों का करें सेवन
फल हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है। प्रदूषण के प्रभाव से बचने के लिए कीवी और संतरा खाएं।

गुड़ को डाइट में करें शामिल
मीठी गुड़ भी गुणों का खजाना है। अपने डाइट में गुड़ को शामिल करें।

सूप और छाछ पीएं
सूप और छाछ पीना भी काफी सेहतमंद होता है। इसमें नमक और जीरा पाउडर मिलाकर पीने से काफी फायदा मिलेगा।

पानी की न हो कमी
प्रदूषण से बचने के लिए शरीर में पानी की कमी नहीं होने दें। पानी की मात्रा ठीक रखने से मेटाबॉलिज्म स्लो नहीं होता है।

श्रीराम 'निर्भयपुत्र'

4 नवंबर को अपने उम्मीदवार की घोषणा करेगी आप

4 नवंबर को अपने उम्मीदवार की घोषणा करेगी आप

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/सूरत। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) आगामी गुजरात विधानसभा चुनावों के लिए राज्य के लोगों द्वारा दी गई राय के आधार पर मुख्यमंत्री पद के लिए अपने उम्मीदवार की घोषणा चार नवंबर को करेगी। ‘आप’ के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने एक संवाददाता सम्मेलन में लोगों से एसएमएस, व्हाट्सएप, वॉयस मेल और ई-मेल के जरिये इस पर अपनी राय देने का अनुरोध किया कि पार्टी का मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार किसे होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि गुजरात में बदलाव का माहौल है और लोगों को लगता है कि ‘आप’ राज्य में सरकार बनाने जा रही है। केजरीवाल ने कहा, ‘‘आज मैं गुजरात के लोगों से पूछना चाहता हूं कि वे गुजरात के अगले मुख्यमंत्री के रूप में किसे देखना चाहते हैं। जनता की राय जानने के लिए हम एक नंबर 6357000 जारी कर रहे हैं। आप एसएमएस, व्हाट्सएप संदेश और वॉयस मेल भी भेज सकते हैं। हम ईमेल आईडी ‘आप एनओसीएम एट जीमेल डॉट कॉम’ भी जारी कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि लोग एसएमएम, व्हाट्सएप, वॉयस मेल या ई-मेल के जरिये तीन नवंबर को शाम पांच बजे तक अपनी राय भेज सकते हैं। केजरीवाल ने कहा, ‘‘हम मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा चार नवंबर को करेंगे।’’

उन्होंने विजय रुपाणी को हटाकर भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री बनाने के लिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधा और कहा कि राज्य के लोगों से पूछे बिना यह किया गया। केजरीवाल ने कहा कि रुपाणी को पद से हटाकर भाजपा ने यह मान लिया है कि कुछ गलत था और उनमें कमियां थीं। ‘आप’ नेता ने कहा, ‘‘क्या उन्हें इसलिए हटाया गया कि वह भ्रष्ट थे या अक्षम थे? उन्हें क्यों हटाया गया?

उन्हें एक साल पहले हटाया गया था। जब रुपाणी को लाया गया था तो उन्होंने जनता से नहीं पूछा था। वे जनता से पूछे बिना मुख्यमंत्री बदलते रहते हैं।’’ केजरीवाल ने कहा कि ‘आप’ ऐसा नहीं करती है। उन्होंने कहा कि ‘आप’ लोगों से यह तय करने के लिए कहती है कि वे किसे अपने मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। केजरीवाल ने कहा, ‘‘पंजाब विधानसभा चुनावों के दौरान हमने लोगों से पूछा था कि वे किसे अगले मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। लोगों ने भारी बहुमत से भगवंत मान का नाम लिया था और जनता की इच्छा के अनुसार हमने उनके नाम की घोषणा की थी।’’

हमारे विधायकों को खरीदने की साजिश: सिसोदिया 

हमारे विधायकों को खरीदने की साजिश: सिसोदिया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश और गुजरात में विधानसभा चुनाव नजदीक है। सभी पार्टियां एक दूसरे पर बयानबाजी कर रही हैं। दिल्ली के सीएम मनीष सिसोदिया ने शनिवार को पीसी कर बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि हमारे विधायकों को खरीदने की साजिश की जा रही है।

अमित शाह पर आरोप लगाते हुए बोले कि हमने पहले ही बताया था की बीजेपी हमारे विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है। मुझे भी खरीदने की कोशिश की गई थी। मेरे पास अच्छे पैसों का ऑफर आया था। खरीदने के लिए ये पैसा कहां से आ रहा है? 43 विधायकों को खरीदने के लिए 1075 करोड़ रुपए रखा हुआ है। इस पर जांच होनी चाहिए। साथ ही विधायकों को खरीदने की साजिश हो रही है इस पर भी उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए।

महिलाओं के अधिकारों पर प्रतिबंध, जवाब मांगा

महिलाओं के अधिकारों पर प्रतिबंध, जवाब मांगा

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गर्भधारण से पहले और प्रसव-पूर्व जांच के लिए महिलाओं के प्रजनन अधिकारों पर 35 वर्ष की आयु के प्रतिबंध के खिलाफ दायर याचिका पर केंद्र से जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति अभय एस. ओका की पीठ ने एक वकील द्वारा दायर याचिका पर केंद्र सरकार और अन्य को नोटिस जारी किया। याचिका में कहा गया है कि आयु सीमा महिलाओं के प्रजनन अधिकारों पर प्रतिबंध है।

पीठ ने कहा, ‘अपनी दलील में वह (याचिकाकर्ता) गर्भधारण-पूर्व और प्रसव-पूर्व निदान तकनीक (लिंग चयन निषेध) अधिनियम, 1994 की धारा 4 (3) (i) का हवाला देती है कि 35 वर्ष की आयु का प्रतिबंध शीर्ष अदालत के हालिया फैसले के मद्देनजर महिलाओं के प्रजनन अधिकारों पर प्रतिबंध है। नोटिस जारी किया जाए, जो उपरोक्त पहलू तक ही सीमित हो।’

शीर्ष अदालत अधिवक्ता मीरा कौर पटेल की एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें कहा गया था कि गर्भाधान-पूर्व और प्रसव-पूर्व निदान तकनीक (लिंग चयन का निषेध) अधिनियम, 1994 की धारा 4 (3) (i) में 35 वर्ष की आयु का प्रतिबंध महिलाओं के प्रजनन अधिकारों पर प्रतिबंध है। अधिनियम के अनुसार, जब तक गर्भवती महिला की आयु 35 वर्ष से अधिक न हो, प्रसव-पूर्व जांच तकनीक का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।

महिलाओं के प्रजनन अधिकारों पर एक महत्वपूर्ण फैसले में, शीर्ष अदालत ने पहले कहा था कि मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी (एमटीपी) अधिनियम के तहत सभी महिलाएं गर्भावस्था के 24 सप्ताह तक सुरक्षित और कानूनन गर्भपात कराने की हकदार हैं, और उनकी वैवाहिक स्थिति के आधार पर कोई भेदभाव ‘संवैधानिक रूप से टिकाऊ नहीं’ है।

स्वास्थ्य: रेसिपीज में कैसे करें 'ड्राय ब्रेड' का इस्तेमाल 

स्वास्थ्य: रेसिपीज में कैसे करें 'ड्राय ब्रेड' का इस्तेमाल 

सरस्वती उपाध्याय 

ब्रेड से बनी टेस्टी चीजें तो आप सभी ने बहुत खाई होगी। लेकिन एक बार ब्रेड का पैकेट खुलने के बाद इसे फ्रेश रखना बहुत ही कठीन होता है। हम ब्रेड को कितना भी अच्छी तरह क्यों न रखें, लेकिन यह सूखने लगती हैं। ऐसे में आप सूखी हुई ब्रेड को फेंकने की बजाय कई तरीकों से इसका इस्तेमाल कर सकते हैं, तो आज हम जानेंगे कैसे करें ड्राय ब्रेड का रेसिपीज में इस्तेमाल।

क्रिस्पी पकौड़े या टिक्की
आपको अगर क्रिस्पी पकौड़े या टिक्की बनाने हैं, तो आप इसमें ब्रेड क्रम्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। ब्रेड को मिक्सी में डालकर चूरा बना लें। फिर इसे आप पकौड़े या टिक्की के घोल में डाल दें। पकौड़े ज्यादा क्रिस्पी और स्वादिष्ट बनेंगे।

ब्रेड रोल्स
आप ब्रेड रोल्स भी बना सकते हैं। आप सोच रहे होंगे कि आखिर सूखी हुई ब्रेड से ब्रेड रोल्स कैसे बनाए जा सकते हैं। इसके लिए आपको ब्रेड को गीला करना होगा। इसके बाद जिस तरह से ब्रेड रोल्स बनते हैं, बना लें।

सूप में डालें क्रूटोन्स
सर्दियों में सूप तो सभी को अच्छा लगता है। आप अगर स्वादिष्ट सूप बनाना चाहते हैं, तो आप सूखी ब्रेड का इस्तेमाल क्रूटोन्स बनाने में भी कर सकते हैं। इसके लिए ब्रेड को टोस्टर में डालकर सेंक लेंं।

ब्रेड पिज्जा
सूखी हुई ब्रेड का इस्तेमाल आप पिज्जा बना सकते हैं। इसके लिए आप अपनी फेवरेट सब्जियों का इस्तेमाल करके पिज्जा बना सकते हैं। इससे ब्रेड पिज्जा का स्वाद बहुत अच्छा लगता है।

मुंबई: आर्यन की फिल्म 'फ्रेडी' का फर्स्ट लुक रिलीज

मुंबई: आर्यन की फिल्म 'फ्रेडी' का फर्स्ट लुक रिलीज

कविता गर्ग 

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता कार्तिक आर्यन की आने वाली फिल्म 'फ्रेडी' का फर्स्ट लुक रिलीज हो गया है। कार्तिक आर्यन जल्द फिल्म 'फ्रेडी' में नजर आने वाले हैं। फिल्म 'फ्रेडी' से जुड़ा कार्तिक आर्यन ने अब अपना फर्स्ट लुक रिलीज किया है।उन्होंने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट पर फिल्म 'फ्रेडी' से जुड़ा अपनी फर्स्ट लुक शेयर किया है। पोस्टर में कार्तिक आर्यन काफी गंभीर लग रहे हैं। एक डॉक्टर के रूप में कपड़े पहने और कैमरे में गौर से देख रहे हैं।

कार्तिक आर्यन ने पोस्टर के कैप्शन में लिखा, "डॉ फ्रेडी गिनवाला, जल्द अपॉइंटमेंट खुलेंगे। शशांक घोष के निर्देशन में बनी थ्रिलर फिल्म 'फ्रेडी' में कार्तिक के साथ अलाया एफ भी नजर आएंगी। फिल्म 'फ्रेडी' डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज होगी।

औरंगाबाद: गैस-सिलेंडर के विस्फोट से 25 लोग घायल

औरंगाबाद: गैस-सिलेंडर के विस्फोट से 25 लोग घायल

अविनाश श्रीवास्तव 

औरंगाबाद। बिहार में औरंगाबाद जिले के नगर थाना क्षेत्र में शनिवार को एक मकान में रसोई गैस-सिलेंडर के विस्फोट कर जाने से 25 लोग घायल हो गए। पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि शाहगंज मुहल्ला में अनिल गोस्वामी के घर चाय बनाने के क्रम में रसोई गैस-सिलेंडर में आग लग गई।

इसे बुझाने के दौरान गैस-सिलेंडर विस्फोट कर गया, जिससे करीब 25 लोग घायल हो गए। घायलों में कुछ पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। सूत्रों ने बताया कि घायलों को औरंगाबाद सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

परिवार के साथ वेकेशन एंजॉय कर रही हैं ईशा

परिवार के साथ वेकेशन एंजॉय कर रही हैं ईशा

कविता गर्ग 

मुंबई। ईशा देओल इन दिनों परिवार के साथ वेकेशन एंजॉय कर रही हैं। एक्ट्रेस ने वेकेशन की फोटो और वीडियोज शेयर की है। वह अपने पति भरत तख्तानी और अपनी बेटियों राध्या और मिराया के साथ एक द्वीप पर एक यादगार समय बिता रही हैं। ईशा ने शुक्रवार को अपनी बेटियों के साथ एक रील शेयर की, जिसमें वह सन बाथ ले रही हैं और समंदर के पानी में बच्चियों के साथ मस्ती कर रही हैं। वीडियो में उनकी हंसी, उनकी खुशी बयां कर रही है।

ईशा देओल पति भरत तख्तानी और बेटियों राध्या और मिराया के साथ एक द्वीप पर यादगार समय बिता रही हैं। ईशा ने एक रील शेयर की, जिसमें वह सन बाथ ले रही हैं और समंदर के पानी में बच्चियों के साथ मस्ती कर रही हैं। वीडियो में उनकी हंसी, उनकी खुशी बयां कर रही है। ईशा ने अपने आस-पास की खूबसूरत प्राकृतिक झलक भी शेयर की है। ईशा देओल इस हफ्ते की शुरुआत में बीच डेस्टिनेशन के लिए गई थी। उन्होंने अपने फैंस को हैप्पी हॉलिडे की शुभकामनाएं दीं और अपने कैप्शन में ट्रैवल डायरीज और वांडरलस्ट जैसे हैशटैग शेयर किए।

मानवता के लिए गंभीर खतरों में से एक 'आतंकवाद'

मानवता के लिए गंभीर खतरों में से एक 'आतंकवाद'

अकांशु उपाध्याय/अखिलेश पांडेय 

नई दिल्ली/लंदन। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को स्पष्ट रूप से पाकिस्तान की तरफ इशारा करते हुए कहा कि संयुक्त राष्ट्र की आतंकवाद रोधी प्रतिबंध व्यवस्था उन देशों को आगाह करने के लिए प्रभावी है, जिन्होंने आतंकवाद को राज्य द्वारा वित्त पोषित उद्यम बना लिया है। दिल्ली में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) की आतंकवाद रोधी समिति की बैठक को संबोधित करते हुए जयशंकर ने आतंकवाद को मानवता के लिए सबसे गंभीर खतरों में से एक बताया।

विदेश मंत्री ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के प्रयासों के बावजूद आतंकवाद का खतरा बढ़ रहा है, खासतौर से एशिया और अफ्रीका में। विदेश मंत्री ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने पिछले दो दशकों में आतंकवाद से निपटने के लिए मुख्य रूप से आतंकवाद रोधी प्रतिबंध व्यवस्था के आसपास निर्मित महत्वपूर्ण संरचना विकसित की है। उन्होंने कहा कि यह उन देशों को आगाह करने के लिए बहुत प्रभावी रही है, जिन्होंने आतंकवाद को राज्य द्वारा वित्त पोषित उद्यम बना लिया है।जयशंकर ने कहा कि इसके बावजूद आतंकवाद का खतरा बढ़ रहा है, खासतौर से एशिया और अफ्रीका में, जैसा कि 1267 प्रतिबंध समिति निगरानी रिपोर्टों में बार-बार उल्लेख किया गया है। उन्होंने कहा कि खुले समाज के लोकाचार का इस्तेमाल आजादी, सहिष्णुता और प्रगति पर हमला करने के लिए किया जा रहा है। विदेश मंत्री ने आतंकवादी समूहों द्वारा नयी प्रौद्योगिकियों के दुरुपयोग का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इंटरनेट और सोशल मीडिया मंच ‘‘आतंकवादियों और आतंकवादी समूहों की टूलकिट में प्रभावशाली उपकरण बनकर उभरे हैं।

जयशंकर ने कहा कि हाल के वर्षों में, खासतौर से खुले और उदार समाज में आतंकवादी समूहों, उनके वैचारिक अनुयायियों और अकेले हमला करने वाले लोगों ने इन प्रौद्योगिकियों तक पहुंच हासिल करके अपनी क्षमताएं बढ़ा ली हैं। उन्होंने कहा कि वे आजादी, सहिष्णुता और प्रगति पर हमला करने के लिए प्रौद्योगिकी और पैसा तथा सबसे जरूरी खुले समाज के लोकाचार का इस्तेमाल करते हैं।

विदेश मंत्री ने कहा कि आतंकवादी समूहों और संगठित आपराधिक नेटवर्कों द्वारा मानवरहित हवाई प्रणालियों के इस्तेमाल ने दुनियाभर में सरकारों की चिंताओं को और बढ़ा दिया है। जयशंकर  ने कहा कि रणनीतिक, बुनियादी और वाणिज्यिक संपत्तियों के खिलाफ आतंकवादी उद्देश्यों के लिए हथियारबंद ड्रोन के इस्तेमाल की आशंकाओं पर सदस्य देशों को गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत है।

नई प्रौद्योगिकी के दुरुपयोग की चुनौती से निपटने के लिए वैश्विक प्रयास जरूरी : गुतारेस

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने आतंकवादी समूहों द्वारा दुष्प्रचार के लिए नई तकनीकों का इस्तेमाल करने की चुनौती से निपटने के लिए ठोस वैश्विक प्रयासों का शनिवार को आह्वान किया। दिल्ली में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) की आतंकवाद रोधी समिति की बैठक को दिए एक संदेश में गुतारेस ने विभिन्न आतंकवादी समूहों द्वारा दुष्प्रचार करने, संघर्ष भड़काने और युवाओं को कट्टर बनाने के लिए नई तकनीकों के दुरुपयोग पर चिंता जताई।

दिल्ली में आतंकवाद रोधी बैठक में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सभी 15 सदस्य देशों के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं। गुतारेस के संदेश को वैश्विक निकाय के एक अधिकारी ने पढ़ा। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा कि नई और उभरती प्रौद्योगिकियों में हर जगह मानवीय स्थितियों में सुधार करने की बेजोड़ क्षमता है, लेकिन अफसोस की बात यह है कि विद्वेषपूर्ण उद्देश्य रखने वाले व्यक्तियों सहित कई लोगों द्वारा इनका दुरुपयोग भी किया गया है। उन्होंने कहा कि घृणास्पद विचारधारा वाले आतंकवादी और अन्य लोग नयी और उभरती प्रौद्योगिकियों का दुरुपयोग करके दुष्प्रचार कर रहे हैं, संघर्ष भड़का रहे हैं, युवओं को भर्ती कर रहे हैं और कट्टरपंथी बना रहे हैं, संसाधन जुटा रहे हैं और हमले कर रहे हैं।

गुतारेस ने कहा कि कोविड-19 महामारी ने इस तरह के दुरुपयोग के कई जोखिमों को उजागर किया है। उन्होंने कहा कि डिजिटल क्षेत्र में सभी मानवाधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध रहते हुए हमें इन जोखिमों को कम करने के लिए ठोस उपाय करने चाहिए। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा कि यह केवल प्रभावी बहुपक्षवाद और अंतरराष्ट्रीय सहयोग के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है, जो संयुक्त राष्ट्र चार्टर के मूल्यों और दायित्वों और मानवाधिकारों संबंधी सार्वभौमिक घोषणा के अनुरूप है।

प्रत्येक जिले में साइबर क्राइम थाने की स्थापना, निर्देश

प्रत्येक जिले में साइबर क्राइम थाने की स्थापना, निर्देश

संदीप मिश्र 

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को गृह विभाग के साथ बैठक में प्रदेश के प्रत्येक जिले में साइबर क्राइम थाने की स्थापना का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि साइबर क्राइम पर लगाम लगाने के लिए अब यह समय की मांग है। उन्होंने कहा कि आज के दौर में साइबर सिक्योरिटी अहम विषय है। पुलिस परिक्षेत्र के बाद अब प्रदेश के हर जिले में एक साइबर क्राइम थाना की स्थापना की आवश्यकता है। इस बारे में यथाशीघ्र विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर प्रस्तुत करें।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में मादक पदार्थों के अवैध निर्माण, खरीद-फ़रोख़्त और ड्रग ट्रैफिकिंग के विरुद्ध अभियान को और तेज करने की आवश्यकता है। इस दृष्टि से संवेदनशील जिलों में सतर्कता और इंटेलिजेंस को और बेहतर करना होगा। अंतरराज्यीय व अंतरराष्ट्रीय सीमा पर चौकसी बढ़ाई जाए। गृह विभाग के साथ-साथ नगर विकास व ग्राम्य विकास विभाग को भी इस अभियान में सहयोग करना होगा। बेहतर समन्वय के साथ ड्रग माफिया के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।

उत्तर प्रदेश, नेपाल राष्ट्र के साथ-साथ उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखण्ड, बिहार और दिल्ली से अपनी सीमा साझा करता है। विकास और सुरक्षा के दृष्टि से सीमा प्रबंधन अत्यंत महत्वपूर्ण विषय है। सीमावर्ती जिलों में थाना, तहसील, विकास खंड सहित जिला प्रशासन में युवा, विजनरी, और ऊर्जावान अधिकारियों की तैनाती की जाए। यहां सभी विभागों में पर्याप्त मानव संसाधन की उपलब्धता रहे।

सभी सीमावर्ती जनपदों में केंद्र व राज्य सरकार की लाभार्थीपरक योजनाओं का 100 प्रतिशत संतृप्तिकरण सुनिश्चित करें। हर पात्र जरूरतमंद को सरकार की योजनाओं का लाभ जरूर मिले। इन जिलों में योजनाओं की प्रगति की अलग से समीक्षा की जानी चाहिए। सीमावर्ती जनपदों में समीपवर्ती राज्य/राष्ट्र से आवागमन होता रहता है। ऐसे में यह जिले अन्य राज्य/राष्ट्र के लिए हमारे ब्रांड एम्बेसेडर सरीखे होते हैं। 

यह आवश्यक है कि यहां प्रशासन का व्यवहार सहयोगपूर्ण हो। इन जिलों में मंडी, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, मॉल, अच्छे स्कूल, बेहतर परिवहन व्यवस्था होनी चाहिए। इस दिशा में नियोजित प्रयास किया जाए। उन्होंने कहा कि सीमावर्ती जिलों में प्रदेश की पुलिस व एसएसबी के दल के साथ जॉइन्ट पेट्रिलिंग कराई जाए। एसएसबी के साथ बेहतर समन्वय बनाये रखें।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि महिला सुरक्षा, सम्मान व स्वावलंबन के संकल्प की पूर्ति में ‘सेफ सिटी परियोजना’ अत्यंत उपयोगी सिद्ध हो रही है। प्रदेश में इस परियोजना के माध्यम से लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत मॉडर्न कंट्रोल रूम, पिंक पुलिस बूथ, आशा ज्योति केंद्र, सीसीटीवी कैमरे, महिला थानों में परामर्शदाताओं के लिए हेल्प डेस्क, बसों में पैनिक बटन व अन्य सुरक्षा उपायों को लागू करने में सहायता मिली है।

उन्होंने कहा कि हाल के समय में महिला सुरक्षा व अपराध नियंत्रण में सीसीटीवी कैमरों की महत्वपूर्ण भूमिका का हम सभी ने अनुभव किया है। वर्तमान में स्मार्ट सिटी परियोजना अंतर्गत स्थापित इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम से शहरों की सुरक्षा व्यवस्था स्मार्ट हुई है। बड़ी संख्या में व्यापारीगणों ने सीसीटीवी कैमरे लगाने में सहयोग किया है। हमें इसे एक मुहिम का रूप देना होगा। अंतर्विभागीय समन्वय के साथ कन्वर्जेंस के माध्यम से वित्तीय प्रबंधन करते हुए अधिकाधिक शहरों को सेफ सिटी बनाने की।कोशिश करनी होगी। गृह, नगर विकास, आवास, संस्थागत वित्त और राज्य कर विभाग परस्पर बैठक कर जनसहयोग के माध्यम से सभी सार्वजनिक स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे, पिंक टॉयलेट, बसों में पैनिक बटन आदि सुरक्षा प्रबंध करने की कार्ययोजना तैयार करें।

सेफ सिटी परियोजना की उपयोगिता को देखते हुए सभी नगर निगमों तक इसका विस्तार किया जा सकता है। इस संबंध में कन्वर्जेंस को आधार बनाकर विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जाए। उत्तर प्रदेश पुलिस देश का सबसे बड़ा नागरिक पुलिस बल है। उत्तर प्रदेश पुलिस अपनी प्रोफेशनल दक्षता, योग्यता और कार्यकुशलता के लिए आज देश-दुनिया में सराहना प्राप्त कर रही है। पुलिस बल के आधुनिकीकरण के लिए सभी जरूरी प्रयास किये जायें। उपकरण की जरूरत हो या ट्रेनिंग की, सभी आवश्यकताओं की पूर्ति तत्काल कराई जाए।

लखनऊ में निर्माणाधीन फॉरेंसिक इंस्टीट्यूट के कार्य में तेजी की अपेक्षा है। गांधीनगर, गुजरात स्थित नेशनल फॉरेंसिक यूनिवेसर्टी के सहयोग से यहां के लिए सर्टिफिकेट, डिप्लोमा व डिग्री पाठ्यक्रम तैयार कराये जाएं। अग्निशमन अनापत्ति प्रमाण-पत्र जारी करने की व्यवस्था को और व्यवहारिक बनाए जाने के लिए इसमें बदलाव की आवश्यकता है। इसके साथ-साथ अन्य आवश्यक बदलावों को अंगीकार करते हुए फायर एक्ट को और बेहतर बनाया जाना चाहिए।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-384, (वर्ष-05)

2. रविवार, अक्टूबर 30, 2022

3. शक-1944, कार्तिक, शुक्ल-पक्ष, तिथि-षष्ठी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:25, सूर्यास्त: 05:44। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 22 डी.सै., अधिकतम-34+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...