गुरुवार, 29 अक्तूबर 2020

डीएम नैनीताल ने किया सराहनीय कार्य

महिलाओं को ऐसे मिलेगा फायदा।


नैनीताल। ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनाने मे स्वयं सहायता समूहों का विशेष योगदान है। जिलाधिकारी सविन बंसल का भी उददेश्य है। कि ग्रामीण महिलाओं को विकास की धारा मे जोडते हुये उनके आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाया जाए ताकि वे अपने परिवार के भरण पोषण में मदद कर सके। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिह रावत की प्राथमिकता मे भी स्वयं सहायता समूहों के जरिये महिलाओ को स्वरोजगार के अवसर दिया जाए।
गौरतलब है। कि प्रकृति मे जहां उत्तराखण्ड को प्राकृतिक खुबसूरती की नेमत दी है। वही प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में हस्तशिल्प, कुटीर उद्योगों के अलावा लजीज पहाडी व्यंजनों, हस्तकला, समृद्ध संस्कृति एवं परम्परागत पहनावा यहां के तीज त्यौहार भी पर्यटकों के बीच मे काफी लोकप्रिय है। देश विदेश के सैलानी उत्तराखण्ड की संस्कृति तथा यहां के लजीज व्यंजनों को काफी पसन्द करते है। जनपद नैनीताल में अब पर्यटक मौसम वर्ष भर रहता है। जिसके कारण बडी संख्या मे देशी विदेशी सैलानियों का आगमन जनपद नैनीताल मे होता है।आने वाले पर्यटको को उनके भ्रमण स्थलों पर पहाडी उत्पाद व व्यंजन उपलब्ध हों इसके लिए जिलाधिकारी सविन बंसल ने एक नई पहल की है। जिसके अन्तर्गत महिला स्वयं सहायता समूहों को बडे पैमाने पर आधुनिक लुक वाले वुडन आउटलैट उपलब्ध कराये जा रहे है। इस प्रकार नैनीताल प्रदेश का पहला जिला होगा जहां महिला स्वयं सहायता समूहों को जिला प्रशासन द्वारा हिलांस वुडन आउटलैट बनाकर दिये जा रहे है। जिनमे महिलायें अपने उत्पादों की ब्रिकी के साथ ही सैलानियों को लजीज व्यंजन भी परोस सकेंगी।
राज्य मे पहली बार है। कि इतने बडे पैमाने पर महिला स्वयं सहायता समूहों को स्वरोजगार एवं आजीविका से जोडने के लिए प्रशंसनीय कार्यवाही की जा रही हैै। जिलाधिकारी बंसल की इस सकारात्मक कार्यवाही से ग्रामीण महिलाओं मे प्रशन्ता है। तथा वे जिलाधिकारी की इस पहल का मुक्त कंठ से तारीफ भी कर रही है। जिलाधिकारी के निर्देशों के क्रम मे जनपद में दीनदयाल अन्त्योदय योजना- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत 12 पर्यटक स्थलों पर हिलांस वुडन आउटलैट तैयार कर लिये गये है।
इन हिलांस वुडन आउटलैट को बनाने के लिए जिलाधिकारी द्वारा 35 लाख की धनराशि जिला योजना तथा अनटाइड फंड से उपलब्ध कराई गयी है। जनपद में 12 हिलांस वुडन आउटलैट बनकर तैयार हो चुके है। जिलाधिकारी द्वारा चयनित स्थल सातताल, स्नोव्यू मुक्तेश्वर,नौकुचियाताल, टी गार्डन श्यामखेत, सरस मार्केट हल्द्वानी, तहसील परिसर कालाढूगी, केव गार्डन, हनुमानगढी तथा सडिया ताल में यह हिलांस वुडन आउटलेट बनकर तैयार हो गये हैै। इन वुडन आउटलैट का निर्माण कुमाऊ मण्डल विकास निगम द्वारा किया गया है। प्रत्येक आउटलेट के निर्माण 3.46 लाख की धनराशि व्यय हुई है। गौरतलब है। कि इन हिलांस वुडन आउटलैट मे स्वयं सहायता समूह की महिलायें अपने विभिन्न प्रकार के उत्पाद जैसे अचार, मुरब्बा, दालें, मसाले, बडियां हर्बल उत्पाद, रिंगाल रामबांस से हस्त निर्मित टोकरियां एवं बैग, ऐपण व अन्य सामानों की ब्रिकी करेंगी।
जिलाधिकारी की इस पहल से जहां महिलाओ को रोजगार मिलेगा वही जनपद के स्थानीय उत्पादों को पहचान एवं बाजार मिलेगा। इस प्रकार पर्यटकों के जरिये जनपद के ग्रामीण उत्पाद राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर तक पहुचेंगे। ग्रामीण एवं महिला विकास में जिलाधिकारी की यह पहल निश्चय ही प्रशंसनीय है।                 


बोरे में मिला युवती का शव, हत्या की आशंका

 नहर में बोरे में मिला युवती का शव हत्या की आशंका।


बाराबंकी। बाराबंकी के बदोसराय कोतवाली क्षेत्र की शारदा सहायक नहर में अद्रा पुल के पास गुरुवार की सुबह एक युवती का शव बोरे में मिला। शव देखते ही मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। पुलिस ने शव को नहर से बाहर निकलवाया। शव की शिनाख्त नहीं हो सकी। युवती की उम्र करीब 20 वर्ष बताई जा रही है। मौके पर पहुंचे रामनगर सीओ ने भी मामले की जानकारी ली।
जिस तरह से बोरे में युवती का शव मिला उससे ग्रामीणों को आशंका है। कि युवती की हत्या के बाद शव को बोरे में भरकर नहर में फेंक दिया गया है। इस संबंध में पुलिस उपाधीक्षक दिनेश कुमार दुबे ने बताया कि मृतका के शरीर पर कोई चोट के निशान नहीं है। मामले की जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस बात की भी संभावना है। कि युवती की मौत के बाद शव को बोरे में रखकर प्रवाहित किया गया हो। शव की शिनाख्त कराने के प्रयास किए जा रहे हैं।                  


कांग्रेस को बड़ा झटका, सांसद ने दिया इस्तीफा

कांग्रेस को बड़ा झटका उन्नाव की पूर्व सांसद ने दिया इस्तीफा बताई ये वजह।


संदीप मिश्र


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में उपचुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी को बड़ा झटका लगा है। उन्नाव की पूर्व सांसद अन्नू टंडन ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। टंडन ने पार्टी की प्राथमिक सदस्य से इस्तीफा दिया है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपना इस्तीफा भेजा है। कांग्रेस मे रहते हुए पंद्रह सालों मे मिले सहयोग के लिए सोनिया गांधी का आभार जताया है।
उन्नाव से पूर्व लोकसभा सदस्य ने यह दावा भी किया कि प्रदेश कांग्रेस के नेतृत्व से उन्हें कोई सहयोग नहीं मिल रहा था। और कुछ लोगों द्वारा झूठा प्रचार चलाया जा रहा था। तथा केंद्रीय नेतृत्व ने इस पर अंकुश लगाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया।
उन्होंने कहा इन बिंदुओं पर मेरी बात कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा से भी हुई लेकिन ऐसा कोई विकल्प या रास्ता नहीं निकल पाया, जो सबके हित में हो। पिछले कुछ महीनों में कांग्रेस के उत्तर प्रदेश के कुछ वरिष्ठ नेताओं से भी मेरी बातचीत हुई लेकिन वो भी इन हालात में असहाय एवं विकल्पहीन लगे।
टंडन ने कहा दुर्भाग्‍यवश प्रदेश नेतृत्‍व से कोई तालमेल न होने के कारण मुझे कई महीनों से काम में उनसे कोई सहयोग प्राप्‍त नहीं हो रहा है। 2019 का चुनाव हारना मेरे लिए इतना कष्‍टदायक नहीं रहा जितना पार्टी संगठन की तबाही और उसे बिखरते हुए देखकर हुआ।
उन्‍होंने कहा प्रदेश का नेतृत्‍व सोशल मीडिया मैनेजमेंट व व्‍यक्तिगत ब्रांडिंग में इतना लीन है कि पार्टी व मतदाता के बिखर जाने का उन्‍हें कोई ज्ञान नहीं है। इस संदर्भ में प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष अजय कुमार लल्‍लू से बातचीत का प्रयास किया गया तो उन्‍होंने कहा कि वह कुछ समय बाद अपनी प्रतिक्रिया देंगे।
टंडन ने कहा मेरे नेक इरादों के बावजूद मेरे सहयोगियों और मेरे बारे में कुछ चुनिंदा व अस्तित्‍वहीन व्‍यक्तियों द्वारा झूठा प्रचार सिर्फ वाहवाही के लिए किया जा रहा है। उससे मुझे अत्‍यंत कष्‍ट का अनुभव हुआ। तकलीफ तब ज्‍यादा होती जब नेतृत्‍व द्वारा उसकी रोकथाम के लिए कोई प्रभावी कदम नहीं उठाया जाता है। इन सारी वजहों के बावजूद मैं कई महीनों से इस उम्‍मीद से पार्टी में बनी रही कि शायद प्रदेश के सुंदर भविष्‍य के लिए अच्‍छे व काबिल नेतृत्‍व को प्रोत्‍साहित किया जाएगा।
टंडन ने कहा मेरी वार्ता कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी जी से भी हुई लेकिन कोई भी विकल्‍प और आगे का रास्‍ता नहीं निकल पाया। उत्‍तर प्रदेश और अन्‍य प्रदेशों के कांग्रेस के कई वरिष्‍ठ नेताओं से मेरी वार्ता इन चंद महीनों में हुई और हालातों से सभी असहाय और विकल्‍पहीन लगे। मुझे अब पद व कोई प्रलोभन तसल्‍ली नहीं दे सकता और कांग्रेस पार्टी से मेरा विश्‍वास टूटकर बिखर गया है। मैं पार्टी के प्रदेश संगठन के साथ अपने उन्‍नाव वासियों या प्रदेश की सेवा करने में अपने को असमर्थ महसूस करती हूं। टंडन ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से 15 वर्षों में मिले सहयोग के लिए उनके प्रति आभार जताया है।
टंडन ने कहा कांग्रेस में रहते हुए मुझे वरिष्‍ठ नेतृत्‍व से हमेशा मिलने का सौभाग्‍य रहा है। और इस कार्यकाल में दोनों ही नेताओं सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्‍व में काम करते हुए उनका स्‍नेह और सहयोग मिला। इन वर्षों के सहयोग के लिए मैं हमेशा उनकी आभारी रहूंगी। मेरे उसूल और मेरी विचारधारा कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्‍व से हमेशा मिलती हुई रही और इस त्‍याग पत्र के उपरांत उसमें कोई परिवर्तन नहीं है। उन्‍होंने कहा मैं अपने गृह क्षेत्र उन्‍नाव की 20 वर्षों से सेवा कर रही हूं। और आगे भी काम करते रहना चाहती हूं। सहयोगियों से परामर्श के बाद भविष्य का फैसला लूंगी।                      


बैंक में पैसा जमा करने पर भी लगेगा चार्ज

 अगले महीने से ये बैंक पैसा जमा करने पर लेगा चार्जेस


नई दिल्ली। अगर आपका किसी भी बैंक में अकाउंट है। तो इस जानकारी को जानना आपके लिए बहुत जरूरी है। क्योंकि अगले महीने से बैंक के कई रूल्स बदलने वाले हैं। क्या आप जानते हैं। कि आपका बैंक आपसे कई चीजों पर पैसे वसूलता है। अगर नहीं तो आपको बता दें कि एसएमएस सुविधा, मिनिमम बैलेंस, एटीएम व चेक के इस्तेमाल तक, पर बैंक आपसे पैसे वसूलता हैं। लेकिन अब ग्राहकों को बैंकों में अपना पैसा जमा करने और निकासी के लिए भी फीस देनी पड़ेगी। इसकी शुरुआत बैंक ऑफ बड़ौदा ने कर दी है।
बैंक ऑफ इंडिया, पीएनबी, एक्सिस और सेंट्रल बैंक इस पर जल्द ही फैसला लेंगे। अगले महीने से यानी नवंबर 2020 से तय सीमा से ज्यादा बैंकिंग करने पर ग्राहकों को अलग से शुल्क देना होगा। मालूम हो कि बैंक ऑफ बड़ौदा ने चालू खाते, कैश क्रेडिट लिमिट और ओवरड्राफ्ट खाते से पैसे जमा और निकालने के अलग व बचत खाते से जमा-निकासी के अलग-अलग शुल्क निर्धारित किए हैं। अगले माह से ग्राहक लोन खाते के लिए महीने में तीन बार के बाद जितनी बार भी पैसा निकालेंगे उन्हें 150 रुपये देने होंगे। बचत खाते की बात करें, तो ऐसे खाताधारकों के लिए तीन बार तक जमा करना फ्री होगा लेकिन अगर ग्राहकों ने चौथी बार पैसे जमा किए तो उन्हें 40 रुपये देने होंगे। इतना ही नहीं वरिष्ठ नागरिकों के लिए भी बैंकों ने कोई राहत नहीं दी है। जनधन खाताधारकों को इसमें थोड़ी राहत मिली है। उन्हें जमा करने पर कोई शुल्क नहीं देना होगा लेकिन निकालने पर 100 रुपये देना होंगे।              


अर्थव्यवस्था उम्मीद से अधिक तेजी से लौट रही है

 अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बात का संकेत दिया है। कि भारत की अर्थव्यवस्था उम्मीद से कहीं ज्यादा तेजी से पटरी पर लौट रही है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने हाल के दिनों में लेबर लॉ, कृषि कानून और मैनुफेक्चरिंग सेक्टर में जिस तरह के बदलाव किए हैं। उससे आने वाले समय में भारत की अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वैक्सीन को लेकर इस समय देशभर में बहस तेज हो चुकी है। मैं भारत के हर नागरिक को बता दूं कि कोरोना की वैक्सीन हर किसी को उपलब्ध कराई जाएगी और कोई भी इससे पीछे नहीं छूटेगा। मोदी ने कहा, कोरोना महामारी के बीच भारत की अर्थव्यवस्था को सुधारने में जिस तेजी से हालिया सुधारवादी कदम उठाए गए हैं। उसने पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है।                   


सादगी से अदा की शराफत के कुल की रस्म

 सादगी से अदा की शराफत मियां के कुल की रस्म


बरेली। शाह सकलैन शराफत मियां के कुल की रस्म गुरुवार सुबह 11 बजे अदा की गई। सुबह से ही दरगाह के मेहमानखाने में तकरीरों का प्रोग्राम चलता रहा। उसके बाद सकलैन मियां की मौजूदगी में क़ुल की रस्म शुरू हुई जिसमें सकलैन मियां ने देश में अमन चैन और भाई चारे के साथ कोरोना वायरस के खात्मे की दुआ की।
बताते चलें कि इस बार कोरोना महामारी के चलते कुल की रस्म में बाहर के जायरीनों को आने से मना कर दिया था। इस बजह से चंद लोग ही कुल की रस्म में शामिल हुए। बाकी के अकीदतमंदों ने अपने घरों में रहकर कुल की रस्म अदा की।                  


विभागों की अनदेखी, रोड पर निर्माण सामग्री

 संबंधित विभाग की अनदेखी! रोड पर डाल रहे निर्माण सामगी।


सतीश कुमार की रिपोर्ट


 मंसूरी। पर्यटन नगरी मसूरी में इन दिनों जगह जगह निर्माण कार्य चल रहे हैं। जिस पर निर्माण सामग्री रोड पर डाली जा रही है। जिससे आम नागरिकों सहित वाहनों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन संबंधित विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।मसूरी में इन दिनों चल रहे निर्माण कार्यो की सामग्री रोड पर डालने से लोगों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
कैमल्स बैक रोड सहित अनेक स्थानों पर लोग निर्माण सामग्री सड़कों पर डाल रहे हैं। जिसके कारण आने जाने वालों को परेशानी उठानी पड़ रही है।
वहीं दूसरी ओर संबंधित विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहा जिससे लोगों में आक्रोश बढ़ रहा है। मालूम हो कि कैमल्स बैक रोड पर प्रात घूमने जाने वालों का तांता लगा रहता है। लेकिन बीच रोड में निर्माण सामग्री पड़ी होने से उन्हें खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
वहीं इस मार्ग पर चलने वाले वाहनों को भी भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। रोड पर मलवा पड़ा होने के कारण उन्हें वापस लौट कर मालरोड से होकर जाना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों का कहना है। कि नगर पालिका व नगर प्रशासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए ताकि कोई निर्माण सामग्री सड़कों पर न डाले अगर किसी ने डाल भी दी है। तो उसके तत्काल उठवा ले ताकि लोगों को परेशानी न हो।                 


निकिता के हत्यारो को सार्वजनिक फांसी की मांग

निकिता के हत्यारे तौसीफ और रेहान को तुरन्त सार्वजनिक तौर से फांसी देने की हरियाणा सरकार से माँग की।


हल्द्वानी। एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार साहू संरक्षक रूपेन्द्र नागर के नेतृत्व में संस्था के माध्यम से मानवता के आतंकवादी जिहादी तौसीफ की गोली से मृतक निकिता की आत्मा की शांति के लिए संस्था पदाधिकारियों ने हल्द्वानी पटेल चौक पार्क में कैंडल जलाकर श्रद्धांजलि देकर निकिता के हत्यारे तौसीफ और रेहान को तुरन्त सार्वजनिक तौर से फांसी देने की हरियाणा सरकार से माँग की
इस दौरान एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था उपाध्यक्ष लोकेश कुमार साहू महिला अध्यक्ष नम्रता सिंह सदस्य रितिक साहू ने संयुक्त रूप से कहा की फरीदाबाद बल्लभगढ़ भारत की होनहार बेटी निकिता ने लव जिहाद के झांसे में न फंसकर शादी करने से मना कर दिया तो मानवता के आतंकवादी जिहादी तौसीफ और रेहान ने मिलकर दिनदहाड़े निकिता को कॉलेज से बाहर निकलते ही गोली मारकर निर्मम हत्या कर दी जो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। क्योंकि निकिता की हत्या केवल इस बात के लिए कर दी गई हैं। की उसने धर्म परिवर्तन कर हत्यारे से शादी करने से मना कर दिया था इसलिए निकिता को मार दिया जो सिर्फ और सिर्फ ऐसा तो आतंकवादी ही अपनी माँगे मनवाने के लिए के हत्याऐं करते हैं। इसलिए यह किसी भी आतंकवादी घटना से कम नहीं है। इसलिए सरकार को ऐसे मानवता के आतंकवादियों से सख्ती से निपटने के लिए तत्काल कठोर से कठोर कार्रवाई कर सार्वजनिक तौर से फांसी दी जाऐ जिससे भारत देश को अपराध मुक्त देश बनाया जाऐ क्योंकि हमारी भारतीय सेना भारत माता का मस्तक विश्व के पटल पर हमेशा ऊंचा रहे इसलिए सेना अपने प्राणों की परवाह भी न करते हुऐ भारत देश व भारतवासियों को हमेशा सुरक्षित रखते हैं। इसलिए भारत देश में मानवता के आतंकवादी और जिहादियों के लिए कोई स्थान नहीं है। इसलिए मानवता के आतंकवादियों और जिहादियों को तुरन्त नरक लोक के द्वारा मृत्युलोक भेजा जाऐ।                  


योगी ने मेधावी नीट परीक्षा छात्रा का सम्मान किया

सीएम योगी ने किया नीट परीक्षा की मेधावी छात्रा का सम्मान।


लखनऊ। नीट परीक्षा में पूर्णांक हासिल कर देश में द्वितीय स्थान हासिल करने वाली कुशीनगर की मेधावी छात्रा आकांक्षा सिंह को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सम्मानित किया और उसके उज्जवल भविष्य की कामना की। आकांक्षा और उसका परिवार बुधवार को मुख्यमंत्री आवास में मेहमान बन कर पहुंचा था।
योगी ने उत्तर प्रदेश का नाम देश में राेशन करने वाली छात्रा उसके माता पिता और छोटे भाई का इस्तकबाल गर्मजोशी से किया। उन्होने आकांक्षा और उनके छोटे भाई अमृतांश को टैबलेट तथा माता-पिता को शॉल देकर सम्मानित किया। उन्होने घोषणा की प्रदेश सरकार आकांक्षा की एमबीबीएस की पढ़ाई का पूरा खर्च उठायेगी और छात्रा के गांव को जोड़ने वाली सड़क का नाम उसके नाम पर होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अति पिछड़े जिले से होने के बावजूद आकांक्षा ने सफलता का जो कीर्तिमान रचा है। वह उनकी मेहनत लगन और जुनून का सबूत है। साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे बच्चों के लिये प्रेरणा का श्रोत है। बहू-बेटियों के सम्मान सशक्तिकरण और स्वावलंबन के लिए सरकार की मिशन शक्ति योजना का आकांक्षा रोल माडल है।
योगी ने कहा कि मेधावी छात्रा ने साबित कर दिया है। कि अगर इरादे बुलंद हो तो कठिन परिश्रम के बूते मनचाही मंजिल पायी जा सकता है। आकांक्षा बालिकाओं के लिए रोल मॉडल हैं। और उन परिवारों के लिए भी जो बालिकाओं को पढ़ाने में कोताही बरतते हैं। थोड़ा भी हम ध्यान दे दें तो बालिकाएं भी बालकों से कम नहीं हैं। इस मौके पर मुख्य सचिव आर के तिवारी और अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी भी मौजूद थे।
योगी ने मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि आकांक्षा की यूजी कोर्स की पूरी फीस और हॉस्टल के खर्चे का पूरा विवरण परिवार से लेकर उसका एक मुश्त भुगतान कर दिया जाए ताकि बाद में परिवार को भटकना न पड़े। मुख्यमंत्री से मिले सम्मान से गदगद मेधावी ने कहा कि उसके लिये यह लम्हा जीवन का सपना पूरा होने जैसा है। छात्रा ने नारी सशक्तीकरण को लेकर शुरू किए गए मिशन शक्ति अभियान के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया।               


स्टार ऑलराउंडर क्रिकेटर को कड़ी फटकार लगाई

 स्टार ऑलराउंडर को कड़ी फटकार, जाने वजह  हार्दिक जब पवेलियन की ओर लौट रहे थे तभी मौरिस ने उन्हें कुछ कहा और दोनों के बीच बहस होने लगी। दोनों ने एक-दूसरे को कुछ इशारा भी किया


अबु धाबी। मुंबई इंडियंस के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के हरफनमौला ऑलराउंडर क्रिस मौरिस को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की आचार संहिता का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया है जिसके लिए दोनों खिलाड़ियों को मैच रेफरी ने कड़ी फटकार लगाई है। आईपीएल-13 में बुधवार को अबु धाबी के शेख जायेद स्टेडियम में मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के बीच खेले गए मैच के दौरान दोनों खिलाड़ी मैदान पर एक-दूसरे से बहस करते हुए नजर आए। विधायक की मांग पर पहले स्पोर्ट्स कॉलेज को मंजूरी दोनों खिलाड़ियों के बीच यह नोक-झाेंक उस समय हुई जब मुंबई इंडियंस लक्ष्य का पीछा कर रही थी। मुंबई की पारी के 19वें ओवर में बेंगलुरु की ओर से क्रिस मौरिस गेंदबाजी कर रहे थे और क्रीज पर हार्दिक पांड्या बल्लेबाज के रूप में मौजूद थे। इस ओवर की चौथी गेंद पर हार्दिक ने जोरदार छक्का लगाया लेकिन अगली ही गेंद पर मौरिस ने उन्हें मोहम्मद सिराज के हाथों कैच आउट करा दिया।                


कश्मीर में एनएआई की एनजीओ खिलाफ छापेमारी

एनएआई व एनजीओ के खिलाफ छापेमारी आज भी जारी हैं राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) तथा ट्रस्टों के खिलाफ छापेमारी गुरुवार को दूसरे दिन भी जारी है।


 श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद और अलगाववाद को बढ़ावा देने तथा इसके वित्तपोषण मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) तथा ट्रस्टों के खिलाफ छापेमारी गुरुवार को दूसरे दिन भी जारी है। एनआईए ने नयी दिल्ली स्थिति चैरिटी संगठन के कार्यालय में भी छापा मारा है। एनआईए ने बुधवार को कश्मीर घाटी और बेंगलुरु में 10 ठिकानों पर छापे मारे और कई आपत्तिजनक दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जब्त किए गए।                  


भय पैदा करने वाले 7 लोगों पर गुंडा एक्ट लगाई

कप्तान ने 7 लोगों पर लगाई गुंडा एक्ट बस्ती जिले की पुलिस ने समाज मे भय और आतंक पैदा करने वाले सात व्यक्तियो को चिन्हित कर उनका चालान गुण्डा एक्ट में किया  


बस्ती। उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले की पुलिस ने समाज मे भय और आतंक पैदा करने वाले सात व्यक्तियो को चिन्हित कर उनका चालान गुण्डा एक्ट मे किया है। पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा ने वृहस्पतिवार को यहां कहा कि कप्तानगंज थाने की पुलिस ने टिकरिया ग्राम निवासी रामसुधार चौधरी,महाराजगंज ग्राम निवासी प्रकाश ,नाउगांव ग्राम निवासी दिलीप वर्मा, तथा परशुरामपुर थाने की पुलिस ने बनगवा ग्राम निवासी रामजनक,लालपुर ग्राम निवासी दिलीप तथा हर्रैया थाने की पुलिस ने चैबेपुर ग्राम निवासी चन्द्र्रप्रकाश ,कसैला ग्राम निवासी बिजय प्रकाश शुक्ला को चिन्हित किया गया। इन सात का चालान गुण्डा एक्ट मे किया गया है।              


सात विधायक सस्पेंड, जैसे को तैसा जवाब देंगें

बसपा के 7 बागी विधायक सस्पेंड, मायावती बोली- देगें जैसे को तैसा जवाब, चाहे बीजेपी को देना पड़े वोट


नई दिल्ली। राज्यसभा चुनाव में बगावत करने वाले सात विधायकों को बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने निलंबित कर दिया है। बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने विधायकों के निलंबन का ऐलान किया। इसके साथ ही मायावती ने कहा कि एमएलसी के चुनाव में बसपा जैसे को तैसा का जवाब देने के लिए पूरी ताकत लगा देगी। बीजेपी को वोट देना पड़ेगा तो भी देंगे। बीएसपी ने विधायक असलम राइनी ( भिनगा-श्रावस्ती), असलम अली (ढोलाना-हापुड़), मुजतबा सिद्दीकी (प्रतापपुर-इलाहाबाद), हाकिम लाल बिंद (हांडिया- प्रयागराज) , हरगोविंद भार्गव (सिधौली-सीतापुर), सुषमा पटेल( मुंगरा बादशाहपुर) और वंदना सिंह -( सगड़ी-आजमगढ़) को पार्टी से निलंबित कर दिया है। बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने कहा कि एमएलसी के चुनाव में सपा के दूसरे उम्मीदवार को हराने के लिए पूरा जोर लगाएंगे। इसके लिए अगर हमें बीजेपी को वोट देना पड़ेगा तो हम देंगे। मायावती ने कहा कि 1995 के केस को वापस लेना हमारी बड़ी गलती थी। इसके साथ ही मायावती ने समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव पर निशाना साधा। बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने कहा कि मेरी पार्टी ने फैसला किया था कि अगर अखिलेश यादव राज्यसभा चुनाव में अपनी पत्नी डिंपल यादव को मौका दे रहे हैं, तो बसपा उनका समर्थन करने के लिए तैयार है। सतीश चंद्र मिश्रा ने सपा नेता से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने अपना फोन नहीं उठाया और राज्य के सभी ब्राह्मण समुदाय के लोगों का अपमान है। बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने कहा कि सभी जानते हैं कि सपा शासन के दौरान माफिया, गुंडे राज्यों पर कैसे राज करते हैं। वे फिर से लोगों को बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रहे हैं। गौरतलब है कि राज्यसभा चुनाव के दौरान बसपा के सात विधायक बागी हो गए हैं। माना जा रहा है कि सभी बागी विधायक जल्द ही सपा ज्वॉइन कर सकते हैं। इनकी मुलाकात अखिलेश यादव से हो चुकी है।               


गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च की गई अन्वेषी जैन

गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च की गयी अन्वेषी जैन


मुंबई। आज हम जिस एक्ट्रेस की बात कर रहे है वह और कोई नहीं बल्कि अन्वेषी जैन है। अन्वेषी जैन हमेशा ही अपनी खूबसूरती के चलते चर्चाओं में बनी रहती है और अपनी एक्टिंग के बल पर अपने फैंस का दिल भी जीत चुकी है। वह हमेशा ही अपनी खूबसूरत फोटोज के चलते चर्चाओं में बनी रहती है। हम बता दें कि अन्वेषी जैन बहुत ही कम समय में पॉपुलरटी के शिखर तक पहुंच गई है। जिसके साथ ही वह गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च की जाने वाली एक्ट्रेस बन गई। अन्वेषी जैन मूल रूप से इंदौर की रहने वाली हैं, और वे 28 साल की हो चुकीं हैं। इस समय अन्वेषी सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा लोकप्रिय हो चुकीं हैं। पिछले कुछ दिनों से गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च की जाने वाली अभिनेत्रियों मे से एक हैं।               


सूखी खांसी में कारगर है घरेलू नुस्खे

सूखी खांसी के इलाज के लिए कारगर है ये घरेलु नुस्खे


अब धीरे-धीरे सर्दियाँ बढऩे लगी है। मौसम में बदलाव के साथ खाँसी जुखाम जैसी समस्याएं भी पनपने लगी है। आमतौर पर हर किसी को कभी ना कभी खांसी जैसी समस्या होती है। बलगम वाली खांसी में सफेद या पीले रंग का बलगम बनता है लेकिन सूखी खांसी में किसी तरह का बलगम नहीं बनता है। सूखी खांसी के दौरान ऐसा लगता है जैसे गले में कुछ अटका हुआ है। सूखी खांसी के कुछ घरेलु उपाय:
शहद: सूखी खांसी होने पर गर्म दूध में शहद को मिलाकर पीने से आराम मिलेगा इसके साथ ही खांसी की वजह से सीने के दर्द से भी राहत मिलेगी। इसके लिए एक चम्मच शहद का दिन में तीन बार सेवन करें। तुलसी: तुलसी के पत्ते सूखी खांसी को दूर करने का रामबाण इलाज है। इसके लिए तुलसी के कुछ पत्तों को पानी में उबालकर इसमें छोड़ी सी चीनी डालकर रात में सोने से पहले पीना चाहिए। हल्दी: एक चम्मच हल्दी को अजवाइन के साथ मिलाकर एक गिलास पानी में उबालें। जब उबलकर यह पानी आधा हो जाए तब इसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर इसका दिन में कम से कम तीन बार सेवन करें। अदरक और नींबू: इसके लिए अदरक को पीसकर एक कटोरी में उसका रस निकाल लें। उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर इसे धीरे-धीरे चाट लें। इस तरह आप सूखी खाँसी से निजात पा सकते है।                 


बहरापन में इलाज के लिए लाभकारी तुलसी के पत्ते

कान में बहरेपन के इलाज के लिए फायदेमंद है तुलसी के पत्ते


हमारे हिन्दु धर्म में तुलसी के पौधे को घर-आंगन में माता की तरह पूजा जाता है। तुलसी के पौधे का जितना पौराणिक महत्व है उससे कही ज्यादा यह पौधा अपने औषधिय गुणों के लिए जाना जाता है। आज लोगों में गंभीर बीमारियों का खतरा बढऩे लगा है उसके इलाज के लोगों का झुकाव भी ऐलोपैथी की तरफ ज्यादा होने लगा है।
बेहरेपन की समस्या का इलाज: इसके लिए तुलसी के रस में कपूर मिलाकर उसको हल्का गर्म कर लें। इसके बाद उसकी कुछ बूंदे कान में डालें। तुलसी के रस को हल्का गुनगुना करके भी अपने कान में डाल सकते हैं। तुलसी के पत्तों का यह इलाज कुछ ही दिनों में कानों की परेशानियों के साथ-साथ बहरेपन की समस्या को भी दूर करता है। तुलसी की पत्तियाँ का यह इलाज बहरेपन की समस्या के लिए सबसे कारगर माना गया है। इसलिए अगर आप भी डॉक्टरी इलाज से थक गए हैं तो फिर एक बार आपको यह घरेलू उपचार करके जरूर देखना चाहिए।               


दो बार मुख्यमंत्री रहे केशुभाई पटेल का निधन

गुजरात के दो बार मुख्यमंत्री रहे केशुभाई पटेल का 92 साल की उम्र में निधन


नई दिल्ली। गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का गुरुवार को निधन हो गया। केशुभाई पटेल की उम्र 92 साल थी। उन्होंने अहमदाबाद के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली। गुरुवार सुबह सांस लेने में तकलीफ होने के बाद केशुभाई पटेल को अस्पताल ले जाया गया। जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। केशुभाई पटेल ने 1995 और 1998 से 2001 तक गुजरात के सीएम के रूप में कार्य किया। छह बार गुजरात विधानसभा के सदस्य रहे पटेल ने 2012 में भाजपा छोड़ दी और अपनी खुद की राजनीतिक पार्टी ‘गुजरात परिवर्तन पार्टी’ बनाई। उन्हें 2012 के राज्य विधानसभा चुनाव में विसावदर से जीत हासिल हुई, लेकिन बाद में बीमार होने के कारण 2014 में उन्होंने इस्तीफा दे दिया।             


पुलिस तलाशी में 500 के 97 नोट नकली मिलें

पुलिस ने सील कर ली तलाशी तो 500 के 97 नकली नोट मिले


बेगुसराय। बेगूसराय के गढ़पुरा बाजार की इंडिया वन एटीएम से 500 के जाली (नकली) नोट निकलने की शिकायत के बाद उसे सील कर दिया गया था। बुधवार को पुलिस अधिकारियों ने एटीएम के अंदर रखे रुपयों की जांच की। जिसमें 500 के 97 जाली नोट मिले। थानाध्यक्ष प्रतोष कुमार ने बताया कि बुधवार को एटीएम की तलाशी ली गयी। एटीएम में तीन लाख 74 हजार पांच सौ रुपये थे। जिनमें से तीन लाख 26 हजार के 500 रुपये के नोट असली मिले। वहीं, 500 के 97 नोट (48 हजार 500 रुपये) नकली मिले। जानकारी के अनुसार, पिछले 23 अक्तूबर को कोरियामा और हरकपुरा के दो युवकों ने गढ़पुरा बाजार की इंडिया वन एटीएम से एक-एक हजार रुपये निकाले थे।                                 


सीरम इंस्टीट्यूट का दवा दिसंबर में मिलेगी वैक्सीन

सीरम इंस्टीट्यूट का बड़ा दावा,भारत में दिसंबर 2020 तक आ जाएगी कोरोना वैक्सीन..!


नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी का सामना कर रहे भारत के लिए राहत भरी खबर है। ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और दिग्गज दवा कंपनी अस्ट्रा जेनेका द्वारा डेवलप की जा रही कोरोना वायरस की वैक्सीन को इसी दिसंबर तक उपयोग के लिए तैयार किया जा सकता है। भारत में इस वैक्सीन के उत्पादन का ठेका लेने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ने यह दावा किया है। पुणे की इस कंपनी के प्रमुख आदर पूनावाला ने कहा कि इस वैक्सीन की 10 करोड़ खुराक अगले साल की दूसरी या तीसरी तिमाही तक तैयार कर ली जाएगी। आदर पूनावाला ने कहा कि यदि सरकार इस वैक्सीन के उत्पादन का लाइसेंस आपात स्थिति वाले प्रावधान के तहत देती है तो हम दिसंबर तक इसे उपयोग के लिए बाजार में उतार देंगे। उन्होंने आगे कहा कि सरकार यदि इसे आपात स्थित वाले प्रावधान के तहत लाइसेंस नहीं देगी तब भी हमारा ट्रायल दिसंबर तक पूरा हो जाएगा और हम इसे जनवरी तक मार्केट में उतार देंगे। उन्होंने कहा कि भारत में इस वैक्सीन को जनवरी तक बाजार में लाने से पहले हमें यह देखना होगा कि ब्रिटेन में भी वैक्सीन का परिक्षण पूरा हो चुका हो। वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सरकार की नजर इस वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल पर है। जो अभी जारी है। इसके परिणाम ठीक रहे तो सरकार आपात स्थिति में मंजूरी वाले प्रावधान के तहत लाइसेंस देने पर फैसला करेगी। इसमें यह भी कहा गया है कि आने वाले दिनों में देश कोरोना के हालात को भी देखते हुए इस बारे में फैसला लिया जाएगा।                                           


दिल्‍ली में इस दिवाली नहीं फोड़े जाएंगे पटाखे

दिल्‍ली में इस दिवाली नहीं फोड़े जाएंगे पटाखे, 3 नवंबर से शुरू होगा पटाखा विरोधी अभियान


नई दिल्ली। आप सभी जानते ही हैं कि इस समय देश की राजधानी दिल्‍ली में प्रदूषण बहुत अधिक बढ़ चुके है। उसी प्रदूषण को लेकर राज्‍य सरकार सख्‍त हो गई है। ऐसे में दिल्‍ली में दिवाली आने को देखते हुए 3 नवंबर से पटाखा विरोधी अभियान शुरू हो जाएगा, ताकि बढ़ते प्रदूषण पर नियंत्रण में लाया जा सके। दरअसल दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बीते बुधवार को इस बारे में बात की। हुई बातचीत में उन्होंने कहा कि, ‘दिवाली पर्व के मद्देनजर दिल्ली सरकार तीन नवंर से पटाखे विरोधी अभियान शुरू करेगी।’ केवल यही नहीं बल्कि पर्यावरण मंत्री राय ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर स्थिति की गंभीरता पर विचार करते हुए लोगों से पटाखे नहीं जलाने के लिए कहा। उन्होंने कहा- ‘पटाखे ना जलाये जाए।’
वैसे मंत्री ने इससे पहले विपक्षी विधायकों और सांसदों को इस अभियान में शामिल होने का न्योता भी दिया था। उन्होंने हाल ही में कहा कि, ‘सुप्रीम कोर्ट के 2018 में आये आदेश के अनुसार इस दिवाली पर सिर्फ ‘हरित’ पटाखे ही बनाए, बेचे और इस्तेमाल किये जा सकेंगे। पटाखों और पराली जलाने से निकलने वाला धुआं हर साल दिल्ली की हवा को खतरनाक बना देता है।’ इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि, ”सरकार 3 नवम्बर से पटाखा विरोधी अभियान शुरू करने जा रही है। इसे मद्देनजर रखते हुए दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति और शहर पुलिस के 11 विशेष दस्ते पटाखा निर्माण इकाइयों का निरीक्षण करेंगे, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोई पुराना स्टॉक तो नहीं बचा है। वास्तव में, मैं दिल्ली के लोगों से ‘पटाखे नहीं’ अभियान शुरू करने की अपील करता हूं। उन्हें कोविड-19 महामारी के मद्देनजर स्थिति की गंभीरता पर विचार करते हुए पटाखों को नहीं जलाना चाहिए।             


नवाचार से मिल रहा है त्वरित न्याय: गहलोत

नवाचार से मिल रहा है त्वरित न्याय: मुख्यमंत्री गहलोत


नई दिल्ली/जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा कि पुलिस ढांचे में नवाचारों से आम जनता को त्वरित न्याय दिलाने में मदद मिली है। उन्होंने कहा कि राज्य में दुष्कर्म के मामलों की जांच में लगने वाला औसत समय 267 दिनों से घटकर 118 दिन हो गया है।
गहलोत राज्य में कानून-व्यवस्था व अपराध नियंत्रण से जुड़े मुद्दों की समीक्षा कर रहे थे। थानों में महिला हेल्प डेस्क, स्वागत कक्ष निर्माण, छात्रा आत्मरक्षा कौशल योजना, मुकदमों के त्वरित निस्तारण, थानों में आवश्यक रूप से प्राथमिकी दर्ज करने की व्यवस्था, राजकॉप सिटीजन ऐप, कमांड व कंट्रोल सेन्टर की स्थापना जैसे नवाचारों का जिक्र करते हुए गहलोत ने कहा कि इनसे राज्य में आमजन को त्वरित न्याय मिलने में मदद मिली है। उन्होंने कहा कि महिला अपराधों के विरूद्ध विशेष अन्वेषण इकाई के गठन से दुष्कर्म के मामलों की तफ्तीश में लगने वाला औसत समय 267 दिनों से घटकर 118 दिन रह गया है। साथ ही राज्य में महिलाओं के विरूद्ध होने वाले अपराधों की लम्बित जांचों का प्रतिशत राष्ट्रीय औसत 34 प्रतिशत के मुकाबले नौ प्रतिशत ही है। गहलोत ने कहा कि नवाचारों के कारण महिलाएं अपने साथ हुए अपराधों की शिकायत दर्ज करने के लिए बिना किसी डर के थाने पहुंच रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि नवाचारों से महिला अपराध के पंजीकरण में बढ़ोतरी हुई है व मुकदमों के त्वरित निस्तारण में गति आई है। इसकी पुष्टि इस बात से भी होती है कि बलात्कार के प्रकरणों में जहां पहले 30 प्रतिशत से भी ज्यादा मामले सीधे पुलिस के पास आने की बजाए अदालत के माध्यम से आते थे वे अब घटकर लगभग 13 प्रतिशत तक आ गए हैं।
उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया तथा साइबर तकनीक का दुरूपयोग कर इनके माध्यम से होने वाले अपराधों पर लगाम लगाने के लिए राजस्थान पुलिस को खुद को तैयार करना चाहिए। गहलोत ने कहा कि हमारा प्रयास है कि राजस्थान अपराधों की रोकथाम और त्वरित न्याय की दिशा में देश का आदर्श राज्य बने। इसके लिए पुलिस को संसाधन उपलब्ध करवाने में किसी तरह की कमी नहीं रखी जाएगी।                


प्रदूषण की रोकथाम के लिए नए 'कानून'

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण की रोकथाम के लिए नए कानून को मंजूरी, जानें क्या होगा खास


नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण की रोकथाम के लिए नये कानून को मंजूरी दे दी है। इसके तहत इपका को खत्म कर उसकी जगह एक नया कमीशन बनाया जाएगा। जो प्रदूषण कम करने के कानून का क्रियान्वयन सुनिश्चित करेगा। कमीशन को शक्तिशाली बनाया गया है। उसके आदेश का क्रियान्वयन न करने पर पांच साल तक की सजा और एक करोड़ रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है। केंद्र सरकार द्वारा बुधवार देर रात जारी अध्यादेश कमीशन फार एयर क्वालिटी मैनेजमेंट इन नेशनल कैपिटल रीजन एंड एडजारनिग एरिया 2020 में भूरेलाल के नेतृत्व वाली अथारिटी इपका को खत्म कर नया कमीशन बनाने की बात कही गई है। कमीशन के तहत तीन सब कमेटियां होंगी जिनमें एक प्रदूषण के स्रोतों की निगरानी और पहचान करेगी। दूसरी रोकथाम के लिए कानून का क्रियान्वयन करेगी। तीसरी सब कमेटी शोध और विकास का कार्य करेगी। बता दें कि हाल में केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि वह एनसीआर में प्रदूषण की रोकथाम के लिए नया कानून ला रही है। राष्ट्रीय स्वच्छ हवा कार्यक्रम (एनसीएपी) के तहत सूचीबद्ध 23 राज्यों में दिल्ली, झारखंड और उत्तर प्रदेश सर्वाधिक प्रदूषित राज्यों में दर्ज किए गए हैं। कार्बन कापी और रेस्पायरर लिविंग की तरफ से किए गए अध्ययन में यह बात सामने आई है। इस अध्ययन में 23 राज्यों में एनसीएपी में शामिल 122 शहरों में वायु निगरानी के तीन साल के आंकड़ों (2016-18) का इस्तेमाल किया गया है। जिसमें पीएम-10 की मात्रा को मुख्य आधार बनाया गया है। कार्बन कापी और रेस्पायरर लिविंग की बुधवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली में तीन सालों के दौरान पीएम-10 की मात्रा सबसे ज्यादा रही है। झारखंड और उत्तर प्रदेश क्रमश: दूसरे एवं तीसरे स्थान पर रहे हैं। जबकि पीएम 2.5 की मात्रा के हिसाब से दिल्ली, उत्तर प्रदेश और बिहार सबसे ज्यादा प्रदूषित राज्य पाए गए हैं।                  


भारत को सऊदी ने दिया तोहफा, झटका

भारत को सऊदी ने दिया दिवाली तोहफा तो पाक को झटका, पाक और गिलगित-बाल्टिस्तान को पाकिस्तान के नक्शे से हटाया


रियाद/ इस्लामाबाद। सऊदी अरब ने पाकिस्तान द्वारा कब्जाए गए कश्मीर (पीओके) और गिलगित-बाल्टिस्तान को पाकिस्तान के नक्शे से हटा दिया है। पीओके कार्यकर्ता अमजद अयूब मिर्जा ने बुधवार को ट्वीट कर यह दावा किया। उन्होंने एक तस्वीर भी ट्वीट की, जिसमें कैप्शन दिया गया था। भारत के लिए सऊदी अरब का दिवाली तोहफा- पाकिस्तान के नक्शे से गिलगित-बाल्टिस्तान और कश्मीर को हटाया। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार बताया कि सऊदी अरब ने 21-22 नवंबर को जी-20 शिखर सम्मेलन के आयोजन की अपनी अध्यक्षता के लिए एक 20 रियाल (सऊदी मुद्रा) का बैंकनोट जारी किया। यह बताया गया कि बैंकनोट पर प्रदर्शित विश्व मानचित्र में गिलगित-बाल्टिस्तान और कश्मीर को पाकिस्तान के हिस्सों के रूप में नहीं दिखाया गया है। मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि सऊदी अरब का कदम पाकिस्तान को अपमानित करने के प्रयास से कम नहीं है। भारत ने गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव पर आपत्ति जताई थी। बता दें कि पाक अक्सर हर मंच पर कश्मीर मुद्दा उठाने की कोशिश करता रहा है और ऐसे में सऊदी का यह कदम उसके लिए किसी बड़े झटके से कम नहीं है। इससे पहले विदेश मंत्रालय ने सितंबर में कहा था कि उन्होंने 15 नवंबर को होने वाले तथाकथित गिलगित-बाल्टिस्तान विधानसभा के चुनावों के बारे में रिपोर्ट देखी है और इस पर कड़ी आपत्ति जताई है। विदेश मंत्रालय ने कहा, भारत सरकार ने पाकिस्तान सरकार को कड़ा विरोध जताया और दोहराया कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख, तथाकथित गिलगित और बाल्टिस्तान सहित, भारत का एक अभिन्न हिस्सा हैं।                   


एससी ने ममता सरकार को लगाई फटकार

देश को आजाद रहने दीजिए…सुप्रीम कोर्ट ने ममता सरकार को क्यों लगाई फटकार, जानें क्या है पूरा मामला


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। सरकार की आलोचना के लिए आम नागरिकों को परेशान नहीं किया जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की और कोलकाता पुलिस को फटकार लगाई। जिसमें दिल्ली की एक महिला को कोलकाता पुलिस ने आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट के लिए समन भेजा था। दरअसल, महिला ने कोलकाता के एक भीड़भाड़ वाले राजा बाजार क्षेत्र के दृश्य को साझा किया था और इन तस्वीरों के जरिए कोरोना लॉकडाउन को लागू करने के लिए ममता बनर्जी सरकार की गंभीरता पर सवाल उठाया था। ऐसे में खतरनाक ट्रेंड होगा: कथित फेसबुक पोस्ट को एफआईआर के लिए अनुपयुक्त मानते हुए सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और इंदिरा बनर्जी की पीठ ने कहा कि अगर राज्यों की पुलिस इस तरह से आम लोगों को समन जारी करने लग जाएगी, तो यह एक खतरनाक ट्रेंड हो जाएगा और ऐसे में कोर्ट को आगे बढ़कर अभिव्यक्ति की आजादी के संवैधानिक अधिकार की रक्षा करनी होगी, जो कि संविधान के आर्टिकल 19(1)A के तहत हर नागरिक को मिला हुआ है।देश को आजाद रहने दीजिए: सुप्रीम कोर्ट ने सख्त टिप्पणी की और कहा कि ऐसा लग रहा है जैसे आप उस महिला को सबक सिखाना चाहते हैं कि सरकार के खिलाफ लिखने की हिम्मत कैसे हुई। बेंच ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति सरकार के खिलाफ टिप्पणी करता है और आप (राज्य) कहते हैं कि वो कोलकाता, चंडीगढ़ या मणिपुर में उपस्थित हो और फिर आप कहेंगे कि हम तुम्हें सबक सिखाएंगे। ये एक खतरनाक ट्रेंड है। इस देश को आजाद बने रहने दीजिए। सुप्रीम कोर्ट ने 29 सितंबर के हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी, जिसमें याचिकाकर्ता को जांच में सहयोग करने के लिए कोलकाता में उपस्थित होने को कहा था। जांच अधिकारी को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से याचिकाकर्ता से पूछताछ करने या यहां तक कि दिल्ली में जाकर तथ्यों की छानबीन करने की स्वतंत्रता दी गई थी। ममता सरकार की ओलोचना पर 13 मई को एफआईआरः सुप्रीम कोर्ट की यह टिप्पणी 29 साल की रोशनी बिस्वास नाम की महिला की याचिका पर आई है। याचिकाकर्ता रोशनी बिस्वास नाम की महिला ने कलकत्ता हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। रोशनी पर बेलीगंज पुलिस थाने में 13 मई को आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट को लेकर एफआईआर दर्ज की गई थी, जिसके बाद कोर्ट ने महिला को फेसबुक पोस्ट को लेकर कोलकाता पुलिस के सामने पेश होने को कहा था। अपने फेसबुक पेज पर किए पोस्ट में महिला ने राजा बाजार इलाके में लॉकडाउन की धज्जियां उड़ाए जाने पर ममता सरकार की आलोचना की थी। फेसबुक पोस्ट के लिए इन धाराओं में एफआईआरः यह प्राथमिकी भारतीय दंड संहिता के तहत धार्मिक समूहों (धारा 153 ए) के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने, धार्मिक भावनाओं को भड़काने (धारा 295 ए), मानहानि (धारा 500), शांति भंग (धारा 504), सार्वजनिक शरारत ( धारा 505) और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम के  अन्य संबंधित प्रावधान तहत दर्ज की गई है। हालांकि, रोशनी को 5 जून को कलकत्ता हाईकोर्ट से राहत मिली थी और कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी। कोलकाता पुलिस ने उन्हें आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 41 ए के तहत समन जारी किया और मामले में पूछताछ करने के लिए कोलकाता में उपस्थित होने के लिए कहा। रोशनी ने प्राथमिकी को रद्द करने के लिए कलकत्ता हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जबकि यह याचिका अभी भी लंबित थी, हाईकोर्ट ने रोशनी को 29 सितंबर को पुलिस के सामने पेश होने का निर्देश दिया। इसके बाद रोशनी ने कोर्ट के इस आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। सुप्रीम कोर्ट में और किसने क्या कहाः 29 साल की रोशनी बिस्वास की ओर से सप्रीम कोर्ट में सीनियर वकील महेश जेठमलानी कहा, ‘मेरे मुवक्किल से संज्ञेय अपराध कहां हुआ है? साथ ही मेरे मुवक्किल ने विवादित पोस्ट्स से किसी भी तरह के जुड़ाव से इनकार किया है। वो रोशनी को कोलकाता इसलिए बुलाना चाहते हैं क्योंकि धमकाया जा सके।’याचिकाकर्ता को परेशान किए जाने के किसी भी प्रयास से इनकार करते हुए पश्चिम बंगाल सरकार के वकील आर. बसंत ने कहा कि आखिर सरकार रोशनी के खिलाफ क्यों होगी। उन्होंने कहा कि धारा 41 एक कार्वयवाही के में कोर्ट को हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि रोशनी हाईकोर्ट के सामने स्वीकार कर चुकी हैं कि वो लॉकडाउन के बाद पुलिस के सामने उपस्थित होंगी। हम उन्हें बस कुछ सवाल पूछने के लिए बुलाना चाहते हैं, परेशान करने के लिए नहीं।कोर्ट की सख्त टिप्पणी इस पर पीठ ने टिप्पणी की, ‘अगर किसी ने गलत किया है, तो हम नागरिकों को बताने के लिए इस देश में पहले संस्थान होंगे कि उन्हें कानून का जवाब देना चाहिए, मगर इसके लिए नहीं। हमें यह सुनिश्चित करने के लिए यहां रहना होगा कि आम नागरिकों को इस तरह परेशान न किया जाए। हमारे पास एक राज्य से दूसरे राज्य में बुलाए जाने वाले लोगों के खिलाफ मजबूत आरक्षण है क्योंकि उन्होंने सरकार की आलोचना की है।’ अदालत ने याचिका पर बंगाल सरकार को नोटिस जारी किया और जवाब देने के लिए बंगाल सरकार को चार सप्ताह का समय दिया। इस बीच, इसने हाईकोर्ट को वर्तमान आदेश से प्रभावित हुए बिना एफआईआर को रद्द करने की याचिका पर आगे की सुनवाई करने का निर्देश दिया है।             


भारतः 24 घंटे में 50 हजार संक्रमित आए सामने

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस महामारी के करीब पचास हजार नए मामले सामने आए हैं। वहीं, 517 लोगों की मौत हुई है। देश में कोरोना वायरस की मृत्यु दर लगातार घट रही है और अब मृत्यु दर 1.5% हो गई है। ठीक हुए मरीजों में से करीब 77 प्रतिशत मरीज 10 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से ताल्लुक रखते हैं। देश में अब तक 10.5 करोड़ से अधिक नमूनों की जांच हो चुकी है। देश में अबतक हुई 1,20,527 लोगों की मौत वायुसेना के पूर्व प्रमुख बीएस धनोआ का बड़ा खुलासा, कहा- पाकिस्तान अभिनंदन को नहीं छोड़ता तो स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब कोरोना के कुल मामले 80 लाख 40 हजार 203 हो गए हैं। इनमें से एक लाख 20 हजार 527 लोगों की मौत हो गई हैं। वहीं, 73 लाख 15 हजार 989 लोग ठीक हो चुके हैं। अभी 6 लाख 3 हजार 687 लोगों का इलाज चल रहा है। कल 56 हजार 480 लोग ठीक हुए हैं। मंत्रालय ने कहा, ''संक्रमण के नए मामलों में से 79 प्रतिशत मामले 10 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से हैं। संक्रमण के सर्वाधिक नए मामलों के साथ केरल महाराष्ट्र से आगे निकल गया है. दोनों राज्यों में हालांकि अब भी पांच हजार से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं। जिन राज्यों में मामलों में वृद्धि हो रही है, उनमें दिल्ली, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु शामिल हैं।               


मर्डर केस में एक और आरोपी गिरफ्तार

फरीदाबाद। एक और आरोपी गिरफ्तार, किया था ये काम फरीदाबाद के निकिता तोमर मर्डर केस में तीसरी गिरफ्तारी की गई है। मुख्य आरोपी तौसीफ को देसी कट्टा मुहैय्या कराने वाला अपराधी अजरु को गिरफ्तार किया गया है। दर्जनों स्थान पर छापेमारी के बाद नूंह ज़िले से अजरु को गिरफ्तार किया गया। वहीं, वारदात में इस्तेमाल कार के मालिक से भी पूछताछ की जा रही है। वायुसेना के पूर्व प्रमुख बीएस धनोआ का बड़ा खुलासा, कहा- पाकिस्तान अभिनंदन को नहीं छोड़ता तो... फरीदाबाद के पुलिस पीआरओ सूबे सिंह ने कहा कि अपराध में प्रयुक्त देसी पिस्तौल को देने वाले शख्स अजरु को नूंह से गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ ही उस आई-20 कार को जब्त कर लिया गया है। जिससे अपराधी आए थे और निकिता तोमर को अगवा करने की नाकाम कोशिश की थी। गौरतलब है कि बल्लभगढ़ के अग्रवाल कॉलेज के बाहर सोमवार को शाम करीब 4 बजे निकिता तोमर की हत्या कर दी गई थी. निकिता, बी.कॉम फाइनल ईयर की छात्रा थी। मुख्य आरोपी तौसीफ और उसके साथी रेहान ने पहले निकिता को अगवा करने की कोशिश की, नाकाम होने पर गोली मार दी। गुस्साई भीड़ ने थाने में लगाई आग, SP कार्यालय का किया घेराव, हुई पत्थरबाजी, जानिए पूरा मामला घटना के चंद घंटों में ही पुलिस ने तौसीफ और रेहान को गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस को अभी तक आरोपी तौसीफ का मोबाइल फोन नहीं मिला है। पुलिस के मुताबिक, वारदात को अंजाम देने के बाद तौसीफ ने अपना फोन तोड़कर कहीं फेक दिया है। अब एसआईटी की टीम तौसीफ को लेकर उस जगह पर गई है। जहां उसने फोन को फेंकने का दावा किया है। इसके अलावा पुलिस का कहना है कि निकिता के मोबाइल को भी परिवार से लेकर फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा। सूत्रों की माने तो तौसीफ का कहना है कि वो निकिता को बहुत प्यार करता था और उससे शादी करना चाहता था। तौसीफ ने बताया कि निकिता ने शादी के लिए इनकार कर दिया था। इसलिए उसकी हत्या कर दी।


सर्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)


 अक्टूबर 30, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-75 (साल-02)
2. शुक्रवार, अक्टूबर 30, 2020
3. शक-1980, अश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि- चतुर्दशी, विक्रमी संवत 2077।


4. प्रातः 06:19, सूर्यास्त 05:40।


5. न्‍यूनतम तापमान 16+ डी.सै.,अधिकतम-30+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेंगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275                                                  (सर्वाधिकार सुरक्षित)                    



दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...