मंगलवार, 22 नवंबर 2022

आक्रोश: 5 वर्षीय बच्चे पर गुलदार का हमला, तोड़ा दम

आक्रोश: 5 वर्षीय बच्चे पर गुलदार का हमला, तोड़ा दम

पंकज कपूर 

देहरादून। उत्तराखंड में खूंखार वन्यजीवों का आतंक सिर चढ़कर बोल रहा है। मंगलवार, 22 नवंबर का दिन पौड़ी जिले के पाबौ ब्लॉक के एक परिवार के लिए अमंगल साबित हुआ। इस परिवार के पांच साल के बच्चे को उस वक्त गुलदार ने अपना निवाला बना लिया, जब वह मैदान से खेलने के बाद अपने घर लौट रहा था। पौड़ी जिले पाबौ ब्लाक के अन्तर्गत आने वाले निसणी गांव में हुआ यह दर्दनाक हादसा मंगलवार की शाम करीब छः बजे उस समय हुआ, जब गांव का ही एक 5 साल का मासूम बच्चा पीयूष खेल मैदान में गांव के अन्य बच्चों के साथ खेलकर अकेला ही अपने घर लौट रहा था। इसी बीच घर के रास्ते में पहले से ही घात लगाये बैठे एक गुलदार ने घर लौट रहे पीयूष पर हमला बोल दिया। गुलदार के इस हमले से मासूम पीयूष को बचने का कोई मौका तक नहीं मिला। पीयूष ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। 

इस बीच जब ग्रामीणों ने गुलदार को देखा तो ग्रामीणों के शोर शराबा करने के बाद गुलदार पीयूष को मौके पर ही छोड़कर जंगल के झुरमुट में भाग निकला। गांव में हुए इस हादसे की खबर ग्राम प्रधान ने पाबौ चौकी इंचार्ज दीपक पंवार को दी तो पुलिस चौंकी इंचार्ज दीपक पंवार और रविन्द्र भट्ट ने मौके पर पहुंच कर घटना स्थल पर पहुंचकर जायजा लिया। पुलिस ने बालक के शव का पंचनामा कर उसे पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल पौड़ी के लिए भेज दिया है। गुलदार के इस हमले में बच्चे की मौत के बाद ग्रामीणों में भारी आक्रोश है।

ग्रामीणों ने वन विभाग से सम्पर्क कर गुलदार को जान से मारने की मांग की है। इस घटना से क्षेत्र में भय बना हुआ है। इस घटना पर क्षेत्रीय विधायक और स्वास्थ्य मंत्री उत्तराखंड धन सिंह रावत ने दुख प्रकट करते हुए जिलाधिकारी और डीएफओ पौड़ी को सख्त निर्देश देते हुए कहा है कि तत्काल गांव में पिंजरा लगाया जाए और वन विभाग की टीम जल्द से जल्द गुलदार को हर हाल में पकड़ा जाए। कोई भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

कांग्रेस ने सिंह का पुतला दहन कर प्रदर्शन किया

कांग्रेस ने सिंह का पुतला दहन कर प्रदर्शन किया


रायपुर उत्तर विधानसभा युवा कॉंग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह का पुतला दहन किया

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। रायपुर उत्तर विधानसभा युवा कांग्रेस ने मंगलवार को देवेंद्र नगर में स्वर्गीय अनिल गुरुजी चौक में रमन सिंह का पुतला दहन कर प्रदर्शन किया। युवा कांग्रेस ​​​​​​ने ​भाजपा नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के बयान का विरोध किया है, जिसमें उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। इस टिप्पणी को युवा काँग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपमानजनक बताया, और भाजपा नेता रमन सिंह का पुतला फूंककर भूपेश बघेल जी से माफी मंगाने अन्यथा निवास घेराव करने की चेतावनी दे डाली।

प्रदर्शन के प्रमुख रूप से उपस्थित पार्षद अजीत कुकरेजा ने कहा कि छत्तीसगढ़ के लोकप्रिय जननेता, किसानों के हितैषी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी करने का अधिकार किसी के पास भी नहीं है। ऐसा करके रमन सिंह ने हम काँग्रेस जन की भावनाओं को आहत किया है। पार्षद बंटी होरा ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के पास भूपेश सरकार के खिलाफ कोई मुद्दों ना होने के कारण वो इस प्रकार की आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहे हैं। जो कि एक पूर्व मुख्यमंत्री को शोभा नहीं देता। 

पुतला दहन कार्यक्रम रायपुर उत्तर विधानसभा युवा काँग्रेस के अध्यक्ष पलाश मल्होत्रा के नेतृत्व में किया गया। जिसमें प्रमुख रूप से पार्षद एवं एमआईसी सदस्य अजीत कुकरेजा, जोन 2 अध्यक्ष हरदीप सिंह बंटी होरा, पूर्व जिला  महासचिव सागर दुल्हनी, प्रदेश सचिव फहीम शेख, इकराम खान, सुजीत सिंह, युवराज मरकाम एवं अन्य बड़ी संख्या में युवा काँग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे।

बलात्कार के आरोपी का समर्थन कर रही हैं 'भाजपा'

बलात्कार के आरोपी का समर्थन कर रही हैं 'भाजपा'


बलात्कारी का समर्थन भाजपा के बेशर्मी की पराकाष्ठा

बलात्कारी के लिए बृजमोहन का चैलेंज चोरी ऊपर से सीना जोरी

भाजपा को अपना बदलकर बलात्कारी जनता पार्टी कर लेना चाहिए 

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। बलात्कारी ब्रम्हानंद नेताम को लेकर भाजपा नेताओं के बयानों से स्पष्ट हो गया कि भाजपा 15 साल की मासूम बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार के आरोपी के समर्थन कर रही है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भाजपा नेताओं का आचरण बेशर्मी और असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा है। भाजपा नेता बृजमोहन अग्रवाल बलात्कारी प्रत्याशी की गिरफ्तारी के लिये झारखंड पुलिस को चैलेंज कर रहे है चोरी ऊपर से सीना जोरी है। भाजपा ऐसे चैलेंज कर रही जैसे ब्रम्हानंद ने मासूम बच्ची के साथ दुराचार करके कोई गलत काम नहीं किया है। लेकिन बृजमोहन अग्रवाल 15 साल की नाबालिग बच्ची के साथ सामूहिक दुराचार के आरोपी ब्रह्मानंद के खिलाफ निंदा के एक शब्द भी बृजमोहन के मुंह से नहीं निकला।

समूची भाजपा ब्रह्मानंद की पैरोकारी कर रही है और घटना तीन साल पुरानी होने की दुहाई दे रही, क्या घटना तीन साल पुरानी हो गयी तो अपराधी को अपराध कम हो गया, उस मासूम बच्ची के साथ भाजपा नेता द्वारा की गयी हैवानियत की गंभीरता कम हो गयी है? भाजपा को अपना नाम बदलकर बलात्कारी जनता पार्टी कर लेना चाहिये।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भाजपा प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम के ऊपर एक 15 साल की आदिवासी बच्ची के साथ बलात्कार, सामूहिक बलात्कार दबाव पूर्वक देह व्यापार में धकेलना पॉक्सो एक्ट में अपराध दर्ज है। भाजपा किस मुंह से उस अपराधी के पक्ष में जनता से वोट डालने की अपील करेगी? छोटे-बड़े नेता जब एक बलात्कारी के पक्ष में चुनाव अभियान चलायेगी तब भाजपा का राष्ट्रीय चरित्र सामने आयेगा जिसमें भाजपा बलात्कारियों का समर्थन करती है। असल में भाजपा का चरित्र ही अपराधियों के साथ खड़ा होना और पीड़ित पक्ष को डराना धमकाना है। बेटी बचाओ का नारा लगाने वाली भाजपा बलात्कारियों को बचाने में लगी हुई है। देश में जहां भी भाजपा की सरकारें है। वहां बलात्कारी को बचाने वहां के नेता सड़कों पर उतरते है।

उन्नाव, कठुआ, हाथरस में भी भाजपा नेता बलात्कारी को बचाने झंडा लेकर सड़कों पर उतरे थे। गुजरात में सजायफ्ता 11 बलात्कारियों को जेल से रिहा किया गया और भाजपा के नेता उस बलात्कारियों का स्वागत कर रहे थे उनको मिठाई खिला रहे थे। रमन सिंह मुख्यमंत्री थे तब उनके ओएसडी ओपी गुप्ता पर नाबालिक से रेप का आरोप लगा 4 साल तक पीड़िता का एफआईआर दर्ज नहीं हुआ था। भाजपा नेता शहनवाज हुसैन, कुलदीप सेंगर, पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्नमयानंद पर लगे बलात्कार के आरोप में भाजपा उन्हें बचाने में लगी रही।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि छत्तीसगढ़ भाजपा नेताओं के समर्थन और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की चुप्पी इस बात का प्रमाण है कि भाजपा बलात्कारी ब्रम्हानंद नेताम को उपचुनाव में प्रत्याशी बना कर फंस चुकी है और अपने राजनैतिक इज्जत बचाने के लिये भाजपा बलात्कारी के समर्थन में खड़ी हो गयी है।

15000 सेनेटरी का निशुल्क वितरण कर चुकी है 'संस्था'

15000 सेनेटरी का निशुल्क वितरण कर चुकी है 'संस्था'


सैनेट्री पैड्स वितरण कर किया छात्राओं को जागृत

गोपीचंद 

बागपत। मंगलवार को सारथी वेलफेयर फाउंडेशन के तत्वधान में माजरा गांव में जाकर छात्राओं को उत्तर प्रदेश सरकार की योजना के अंतर्गत जागरूक किया। वन्दना गुप्ता ने बताया, अभी तक कुछ छात्रों को इस विषय पर पूरी जानकारी नहीं है। जिससे वह मानसिक व शारीरिक रूप से मजबूत हो, उनकी बहुत सारी परेशानियों को देखते हुए लगभग हमारी संस्था 15000 सेनेटरी का निशुल्क वितरण कर चुकी है और आगे भी करती रहेगी।

जिससे सभी छात्राएं व महिलाएं शसक्त हो और अपनी जिंदगी को खुलकर जिये। इस मौके पर अध्यक्ष वन्दना गुप्ता, स्कूल की प्रिंसिपल अर्चना, प्राची सारस्वत आदि उपस्थित रहे।

प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर पुरस्कार प्राप्त कर सकतें हैं 

प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर पुरस्कार प्राप्त कर सकतें हैं 


नगर पालिका परिषद शामली ने शुरू की एक और पहल 

विचार भेजकर नगरवासी ले स्वच्छता टेक्नोलॉजी चैलेंज प्रतियोगिता में हिस्सा

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 के तहत नगर में रहने वाले आम लोग भी कुछ विषयों पर विचार भेजकर 'स्वच्छता टेक्नोलॉजी चैलेंज' प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर पुरस्कार प्राप्त कर सकते हैं। प्रतियोगिता में शामिल होने वाले व्यक्ति को "स्वच्छ पड़ोस" यानी उनका आस-पास पड़ोस कितना साफ एवं स्वच्छ है, इस पर पचास शब्दों में अपने विचार भेजने हैं, इसी तरह "स्वास्थ्य" विषय पर भी आपको अपने विचार भेजने हैं यानी आपके शहर में स्वास्थ्य सेवाएं कैसी हैं, तीसरा विषय है।

 "आजीविका''

इस विषय में आपको पचास शब्दों में लिखना है कि आपके शहर में आजीविका साधनों की स्थिति क्या है। 'वायु प्रदूषण' और 'उद्योग' के अलावा 'स्टार्टअप', 'शासन में नागरिक जुडाव' तथा 'लिंग विशिष्ट पहल' विषय पर भी आप अपने विचार भेज सकते हैं। प्रत्येक विषय पर विचार भेजने की टीम शब्द सीमा पचास ही रहेगी।

विचार भेजने की अंतिम तिथि 05 दिसंबर रखी गई है जो लोग इस प्रतियोगिता में अपने विचार भेजना चाहते हैं वह नगर पालिका परिषद शामली द्वारा जारी व्हाट्सएप नंबर 8923101802 पर भेज सकते हैं। अधिशासी अधिकारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि प्रतियोगिता में प्रथम आए विचारों को केंद्र सरकार को भेजा जाएगा और उन्हें पुरस्कृत भी किया जाएगा।

मजदूरी मांगनेे पर युवक की पीट-पीटकर हत्या, आरोप 

मजदूरी मांगनेे पर युवक की पीट-पीटकर हत्या, आरोप 

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। क्षेत्र के एक गांव में मजदूरी मांगनेे पर एक युवक की पीट-पीटकर हत्या करने का आरोप लगाया गया है। दो सगे भाइयों पर आरोप लगाते हुए कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। बसायच निवासी राजेंद्र ने कोतवाली में तहरीर देकर बताया कि कहा कि बीस नवंबर को उसका बेटा अक्षय अपने भाई कोशिंद के साथ गांव उमरपुर लिसौड़ा में विक्की व विपिन कुमार पुत्रगण रामपाल के यहां पुताई की मजदूरी के रुपये लेने गया था।

आरोप है कि मजदूरी मांगने पर आरोपी दोनों भाइयों ने जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए मारपीट की। इस दौरान अक्षय को मृतक समझकर आरोपी युवकों ने उसे बिजली के नंगे तारों पर डाल दिया। आरोपियों ने उनके दूसरे पुत्र कोशिंद को भी परिजनों को सूचना नहीं करने दी।

शोरशराबा होने पर आरोपी दोनों भाई वहां से भाग गए। इसके बाद कोशिंद अपने भाई अक्षय को मेरठ ले जाने लगा, लेकिन रास्ते में ही खतौली से कुछ दूर चलने पर उसने दम तोड़ दिया। तब अक्षय के शव को लेकर कोशिंद गांव बसायच पहुंचा। वहां कोशिंद ने परिजनों व अन्य ग्रामीणों को मामले की सूचना दी। मृतक के पिता ने दोनों भाईयों पर अक्षय की पीट-पीटकर हत्या करने का आरोप लगाया। पुलिस ने तहरीर के आधार पर विक्की और विपिन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

दोहरे बुजुर्ग हत्याकांड से क्षेत्र में फैली सनसनी

दोहरे बुजुर्ग हत्याकांड से क्षेत्र में फैली सनसनी

दीपक राणा 

गाजियाबाद। जनपद स्थित लोनी विधानसभा क्षेत्र में डबल मर्डर से सनसनी फैल गई है। थाना ट्रॉनिका सिटी क्षेत्र अंतर्गत दौलत नगर, चर्च कॉलोनी में पति-पत्नी की हत्या की गई है। घर में मृत अवस्था में बुजुर्ग दंपति के शव बरामद होने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। पुलिस दोहरे हत्याकांड के मामले की जांच में जुटी हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के द्वारा स्थलीय निरीक्षण किया गया। उन्होंने सभी बिंदुओं पर जांच कर मामले का जल्द से जल्द खुलासा करने का आश्वासन दिया। 

डॉक्टर इरज रजा एसपी ग्रामीण, क्षेत्र अधिकारी रजनीश उपाध्याय एवं थाना प्रभारी पुनीत कुमार भी मौके पर मौजूद रहे। परिजनों के अनुसार बुजुर्ग दंपत्ति की गला घोट हत्या कर की गई। बगल में रहने वाली बेटी फातिमा को सुबह 6 बजे दूध लेने जाते समय इस घटना की जानकारी मिलीं। बुजुर्ग दंपत्ति कबाड़ी का काम करते थे। मृतक बुजुर्ग दंपति पिछले 15 साल से इसी जगह रह रहे थे।

सेमीफाइनल: 18 दिसंबर को फाइनल मैच खेलगें

सेमीफाइनल: 18 दिसंबर को फाइनल मैच खेलेंगे 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। फीफा वर्ल्ड कप का 22वां संस्करण 20 नवंबर को कतर में शुरू हो चुका है, जिसमें 32 टीमें भाग लें रही हैं। टूर्नामेंट का अभी ग्रुप चरण से शुरू हुआ है। जिसमें 32 टीमें एक दूसरे के खिलाफ मैच खेल रही हैं। फीफा विश्व कप में इस बार 32 टीमें हैं जिन्हें 8 ग्रुप में 4-4 टीमों के साथ बांटा गया है। फीफा वर्ल्ड कप का आगाज हो गया है। अबतक ग्रुप  A और ग्रुप B के सभी 8 टीमों ने एक-एक मैच खेल लिया है। इस दौरान ग्रुप A में नीदरलैंड, इक्वाडोर ने अपने-अपने मैच जीत लिए हैं तो वहीं, सेनेगल और होस्ट देश कतर को अपने 1-1 मैच में हार का सामना करना पड़ा है। दूसरी ओर ग्रुप B में इंग्लैंड और यूएसए को जीत मिली है। इसके अलावा वेल्स और ईरान का एक-एक मैच ड्रा रहा है।

ग्रुप A में नीदरलैंड्स पहले नंबर पर...

ग्रुप ए में नीदरलैंड्स की टीम 3 प्वाइंट्स के साथ पहले नंबर पर है तो वहीं क्वाडोर टीम के पास भी 1 मैच के बाद 3 फ्वाइंट्स हैं और वो दूसरे नंबर पर है।
 
ग्रुप B में इंग्लैंड पहले नंबर पर...

ग्रुप बी में इंग्लैंड के पास 3 प्वाइंट्स हैं और वह पहले नंबर पर है। वही, वेल्स टीम ने एक मैच ड्रा खेला है जिसके कारण वह दूसरे नंबर पर है। लेकिन उसके प्वाइंट केवल 1 हैं। 

18 दिसंबर को होंगे फाइनल मैच...

फीफा वर्ल्ड कप का 22वां संस्करण 20 नवंबर को कतर में शुरू हो चुका है, जिसमें 32 टीमें भाग लें रही हैं. टूर्नामेंट का अभी ग्रुप चरण से शुरू हुआ है। जिसमें 32 टीमें एक दूसरे के खिलाफ मैच खेल रही हैं। फीफा विश्व कप में इस बार 32 टीमें हैं, जिन्हें 8 ग्रुप में 4-4 टीमों के साथ बांटा गया है। हर ग्रुप की टीमें अपने ग्रुप में शामिल टीमों के साथ 1-1 मैच खेलेगी। इसके बाद हर ग्रुप से टॉप 2 पर रहने वाली टीम राउंड ऑफ-16 में प्रवेश करेगी। राउंड ऑफ-16 में नॉकआउट मैच शुरू होंगे। यानि जो भी टीम अपने मैच जीतेगी वो टीम टूर्नामेंट में आगे बढ़ती जाएगी। राउंड ऑफ-16 में 8 मैच होंगे। यहां से जीतने वाली टीम क्वार्टर फाइनल मैच में पहुंचेगी, जहां 4 मैच होंगे। क्वार्टर फाइनल में 8 टीमें पहुंचेगी। क्वार्टर फाइनल जीतने वाली 4 टीमें सेमीफाइनल में जाएगी और फिर सेमीफाइनल जीतने वाली टीम को 18 दिसंबर को फाइनल मैच खेलने होंगे।

सत्ताधारी दल के एमएलए का कॉलर पकड़ा, झगडा

सत्ताधारी दल के एमएलए का कॉलर पकड़ा, झगडा

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कार्यकर्ताओं का सम्मान और उनके मुताबिक कार्य नहीं कराने वाले एमएलए को उस समय भारी फजीहत झेलनी पड़ी, जब सत्ताधारी दल के एमएलए का कार्यकर्ताओं ने कॉलर पकड़ लिया और दे-दनादन घूंसे जड़ दिए। पीछा छुड़ाने को एमएलए ने मंच से कूदकर दौड़ लगा दी। सीएम ने इस मुद्दे को लेकर अभी तक अपनी कोई टिप्पणी नहीं की है। दरअसल मंगलवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे राजधानी दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी के एमएलए गुलाब सिंह यादव का होना बताया जा रहा है। वायरल हो रहे वीडियो के मुताबिक आम आदमी पार्टी के एमएलए सोमवार की देर रात श्याम विहार में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करते हुए गुफ्तगू कर रहे थे। इसी दौरान किसी बात को लेकर अचानक से हंगामा होना शुरू हो गया। आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने एमएलए का कॉलर पकड़कर उनके साथ धक्का-मुक्की शुरू कर दी।

जैसे ही एमएलए ने बाहर निकलने की कोशिश की तो पीछा करते हुए कार्यकर्ताओं ने एमएलए को दे दनादन घूंसे रसीद करने शुरू कर दिए। बैठक में हो रही भारी फजीहत और कार्यकर्ताओं की पिटाई से बचने के लिए एमएलए ने मंच से कूदते ही वहां से दौड़ लगा दी, तब कहीं जाकर एमएलए का पीछा छूट पाया। हालाकि हगामा और एमएलए की हुई फजीहत के कारणों का अभी साफतौर से पता नही चल पाया है, लेकिन पार्टी के मुखिया दिल्ली के इन्वेस्टीगेशन मास्टर बनकर बच्चों को सबक देने वाले सीताराम अब बंदियों में ला रहे सुधार सेहत डिजिलॉकर में रख सकते हैं।

उद्योग पति अंकित बिन्दल ने की डायबिटिक क्लीनिक की स्थापना इस नाम के 4 कफ सिरप को लेकर अलर्ट जारी- नहीं करें इनका इस्तेमाल तेजी से बदलती दुनिया के इस दौर में इंटरनेट क्रान्ति ने अपनी शक्ति से सबको चकित कर दिया है। इस ताकत की वजह से मीडिया संसार में एक ज़बरदस्त बदलाव की बयार बह रही है। कहने का मतलब, मीडिया का एक नया स्वरूप उभर कर सामने आया है। 

तृणमूल कांग्रेस के कार्यालय को ध्वस्त करने का निर्देश

तृणमूल कांग्रेस के कार्यालय को ध्वस्त करने का निर्देश

इकबाल अंसारी 

कोलकाता। कलकत्ता उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने शहर के संरक्षण अधिकारियों को पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कार्यालय को ध्वस्त करने का निर्देश दिया है, जो कथित तौर पर शहर के मध्य भाग में नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्रनाथ टैगोर के पैतृक घर जोरासांको ठाकुरबाड़ी में अवैध रूप से बनाया गया था। उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश प्रकाश श्रीवास्तव और न्यायमूर्ति आर भारद्वाज की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने सोमवार को तृणमूल कांग्रेस द्वारा संचालित कोलकाता नगर निगम (केएमसी) को विरासत स्थल (ग्रेड 1) के हिस्से से तीन सप्ताह के भीतर पार्टी कार्यालय को हटाने का निर्देश दिया। 

अदालत के आदेश के मुताबिक यूनिवर्सिटी की हेरिटेज कमेटी महर्षि भवन के पुराने स्वरूप को वापस लाएगी। जहां बीरभूम बनून में शांतिनिकेतन में स्थानांतरित होने से पहले कविगुरु ने अपना बचपन बिताया था। उच्च न्यायालय में दायर एक जनहित याचिका में आरोप लगाया गया है कि ठाकुरबाड़ी के महर्षि भवन के कुछ कमरों को तृणमूल कांग्रेस पार्टी के कार्यालय के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है और परिसर के कुछ अन्य कमरों को फिर से तैयार किया गया है। एसोसिएशन पर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस का करीबी होने का आरोप है।

गौरतलब है कि महर्षि भवन उस इमारत का हिस्सा है जहां रवींद्रनाथ ने अपना बचपन बिताया था। सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस द्वारा चलाए जा रहे यूनिवर्सिटी के वर्कर्स विंग के एक कार्यालय द्वारा इस पर अवैध रूप से कब्जा कर लिया गया है। न्यायालय ने पार्टी कार्यालय को तीन सप्ताह के भीतर ध्वस्त करने और विरासत स्थल को बहाल करने का आदेश दिया है। अदालत का यह आदेश केएमसी, कोलकाता पुलिस और विरासत स्थल समिति के लिए है। अदालत ने उसी समय उत्तरी कोलकाता के बीटी रोड स्थित रवीन्द्र भारती विश्वविद्यालय में तृणमूल कांग्रेस वर्कर्स यूनियन द्वारा अवैध रूप से कब्जा किए गए एक अन्य ढांचे को गिराने का निर्देश दिया। इस मामले की अगली सुनवाई 19 दिसंबर को मुकर्रर की गयी है।

किसी से डर नहीं, किसी को डरने की जरूरत नहीं

किसी से डर नहीं, किसी को डरने की जरूरत नहीं

इकबाल अंसारी 

मलप्पुरम। अपने मालाबार दौरे को लेकर पार्टी के अंदर मची हलचल और उन्हें मिल रहे समर्थन से अप्रभावित दिख रहे कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने मंगलवार को अपनी यात्रा जारी रखते हुए यहां यूडीएफ-सहयोगी आईयूएमएल के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की और कहा कि उन्हें किसी से डर नहीं है तथा किसी को भी उनसे डरने की जरूरत नहीं है।

मीडिया ने सवाल किया कि केरल में उनके दौरे से कौन डरता है, इसके जवाब में थरूर ने कहा, मैं किसी से नहीं डरता और किसी को मुझसे डरने की कोई जरूरत नहीं है उन्होंने यह भी कहा कि उनकी राज्य कांग्रेस के भीतर कोई गुट बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं है।

तिरुवनंतपुरम के सांसद की टिप्पणी उन अटकलों के बीच महत्व रखती है कि केरल में कांग्रेस नेतृत्व का एक वर्ग उनके बढ़ते समर्थन और राज्य में पार्टी के भीतर एक थरूर गुट के उभरने से आशंकित प्रतीत होता है, जहां पार्टी ने 2016 में प्रतिद्वंद्वी माकपा के हाथों सत्ता गंवा दी थी। थरूर ने हालांकि पनक्कड़ में सादिक अली शिहाब थंगल के आवास पर आईयूएमएल नेताओं के साथ अपनी बैठक को यह कहकर ज्यादा महत्व नहीं दिया कि यह जिले में एक कार्यक्रम के लिये जाते समय हुई सिर्फ एक शिष्टाचार भेंट थी।

वहां मौजूद इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) के अन्य वरिष्ठ नेताओं ने भी उनके दौरे में कुछ भी असामान्य नहीं बताया और कहा कि जब भी वे इस क्षेत्र से गुजरते हैं तो वे सभी थंगल से मिलते हैं। अपने कट्टर समर्थक और सांसद एम के राघवन के साथ थरूर ने यह भी कहा कि गुट बनाने का उनका कोई इरादा या रुचि नहीं है। थरूर ने कहा,कुछ लोग कह रहे हैं कि यह (उनका दौरा) विभाजनकारी रणनीति या गुटबाजी है। हमारा कोई गुट बनाने का इरादा नहीं है और न ही हमारी इसमें रुचि है। कांग्रेस पहले से ही 'ए' और 'आई' समूहों से भरी हुई है और अब 'ओ' और 'वी' जैसे अक्षर जोड़ने की जरूरत नहीं है। केरल में करुणाकरण और एके एंटनी, दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों के समय से कांग्रेस पार्टी में 'ए' और 'आई' समूह सक्रिय हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा, अगर एक अक्षर होना है, तो वह एक संयुक्त कांग्रेस के लिए 'यू' होना चाहिए, जिसकी हम सभी को जरूरत है। इस दौरे में कुछ भी असामान्य नहीं है। मैं यूडीएफ के दो सांसदों के एक सहयोगी दल के नेताओं से मिलने में कोई बड़ी बात देखने की जरूरत नहीं समझ पा रहा हूं। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब देश में विभाजनकारी राजनीति सक्रिय थी, ऐसी राजनीति की जरूरत थी जो सभी को एक साथ लाए और यह प्रशंसनीय है कि आईयूएमएल ने हाल ही में चेन्नई, बेंगलुरु और मुंबई में भाईचारे को बढ़ावा देने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए। थरूर से मुलाकात के बाद थंगल ने कहा कि सांसद के केरल आने के बाद से उनके परिवार के उनके साथ घनिष्ठ संबंध रहे हैं। 

थंगल ने कहा, उन्हें सभी महत्वपूर्ण कार्यक्रमों, अवसरों पर आमंत्रित किया जाता है। इसलिए, जब वह यहां थे तो वह हमसे मिलने आए। यह पूछे जाने पर कि क्या वह चाहते हैं कि थरूर केरल की राजनीति में सक्रिय रहें, उन्होंने कहा, वह (थरूर) पहले से ही सक्रिय हैं। वह केरल से सांसद हैं। उन्होंने यहां से दो बार जीत हासिल की। वह तिरुवनंतपुरम तक ही सीमित नहीं हैं। वह अच्छे प्रचारक हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि थरूर के मालाबार दौरे ने केरल में कांग्रेस के एक महत्वपूर्ण तबके को हिला कर रख दिया है और उनमें से कुछ को उनके इस कदम के पीछे एक एजेंडा होने की आशंका है।

71,000 नियुक्ति-पत्र बांटना, निशाना साधा: विवाद

71,000 नियुक्ति-पत्र बांटना, निशाना साधा: विवाद 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने मंगलवार को रोजगार मेला के तहत नव नियुक्त कर्मियों को 71,000 नियुक्ति-पत्र बांटने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा और इसे 'चुनावी स्टंट' करार दिया। खड़गे ने आगामी गुजरात विधानसभा चुनावों के संदर्भ में ट्वीट किया, “पीएम मतदाताओं को 'गुमराह' करने के लिए 71,000 नौकरी पत्र वितरित कर रहे हैं।”

उन्हाेंने विभिन्न विभागों में 30 लाख पद खाली होने का दावा करते हुए कहा, “प्रधानमंत्री ने प्रति वर्ष दो करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था। आठ साल में सोलह करोड़ नौकरियां दी जानी थीं, लेकिन यह महज 'चुनावी स्टंट' है, जिसमें केवल हजारों को रोजगार मिला।” हाल ही में, कांग्रेस अध्यक्ष खड़गे ने यहां पार्टी के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सत्तारूढ़ सरकार पर बेरोजगारी के मुद्दे को हल करने के लिए कोई कदम नहीं उठाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार सिर्फ जनता को गुमराह कर रही है।

भाजपा सरकार ने इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया है। गौरतलब है कि गुजरात में पहले चरण का चुनाव एक दिसंबर को 89 विधानसभा क्षेत्रों में और दूसरे चरण में 93 सीटों पर 5 दिसंबर को होगा। मतगणना आठ दिसंबर को होगी। 

भौमिक ने नियमों को तोड़ते हुए मंच पर भाषण दिया

भौमिक ने नियमों को तोड़ते हुए मंच पर भाषण दिया

इकबाल अंसारी 

अगरतला। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री डॉ मणिक साहा और केंद्रीय अधिकारिता एवं सामाजिक न्याय राज्य मंत्री प्रतिमा भौमिक के बीच चल रही खींचतान सोमवार को राज्य के सिपाहीजाला जिले में सोनमुरा एसडीएम कार्यालय के शिलान्यास समारोह में सबसे सामने प्रकट हो गई। इस मामले पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं ने प्रतिक्रिया दी। पुलिस सूत्रों ने मंगलवार को कहा कि समारोह में मुख्यमंत्री के पहुंचने और औपचारिक शुरुआत से पहले भौमिक ने नियमों को तोड़ते हुए मंच पर जा कर भाषण दिया। जब मुख्यमंत्री कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे तो वह मंच से उतर गयी और उनके साथ बड़ी संख्या में लोग समारोह से चले गए।

समारोह का आयोजन करने वाले जिलाधिकारी और अन्य अधिकारी इस घटना से शर्मिंदा हो गए और किसी तरह मुख्यमंत्री के कार्यक्रम से जाने तक लोगों को रोक कर रखा। भौमिक के मुख्यमंत्री के आने से पहले मंच पर जाकर भाषण देने की घटना को जिलाधिकारी स्पष्ट नहीं कर पाए। हालांकि सिपाहीजाला के जिलाधिकारी विश्वश्री बी ने तथ्य को स्वीकार करते हुए कहा,“केंद्रीय मंत्री के अन्य कार्यक्रमों के कारण उन्होंने अपना भाषण पहले दे दिया और मुख्यमंत्री की इजाजत लेकर वह चली गयी थी। सार्वजनिक कार्यक्रमों में लोग आते हैं और चले जाते हैं जिनपर नियंत्रण नहीं है।”

पार्टी सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री डॉ. साहा को अपने पूर्ववर्ती बिप्लब कुमार देब और प्रतिमा भौमिक से मुख्यमंत्री कार्यकाल के पहले दिन से ही असहयोग का सामना करना पड़ रहा है। पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि पार्टी के नेताओं का एक समूह और कैबिनेट में कुछ मंत्री भी मुख्यमंत्री के खिलाफ शासन में बाधा पहुंचाने और गुटबाजी को लेकर सक्रिय है। पार्टी में कलह से विपक्ष को प्रोत्साहन पहुंच रहा है।

नेताओं ने कहा कि डॉ. साहा के खिलाफ एक गुट सक्रिय रूप से काम कर रहा है जिसने उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्हें उपचुनाव में हराने की पूरी कोशिश की थी। पर, डॉ साहा की छवि और मजबूत चुनाव प्रशासन के कारण वे लोग असफल रहे। विधानसभा चुनाव से पहले यही गुट मुख्यमंत्री को बदनाम करने के लिए अराजकता पैदा करने और अव्यवस्था फैलान के लिए सक्रिय हो गया है।

निर्माण के लिए ₹993.51 करोड़ के वित्त को मंजूरी

निर्माण के लिए ₹993.51 करोड़ के वित्त को मंजूरी

नरेश राघानी 

जयपुर। राजस्थान सरकार ने जयपुर मेट्रो के फेज 1-सी के निर्माण के लिए 993.51 करोड़ रुपये के वित्त को मंजूरी दे दी है। सरकारी प्रवक्ता ने बताया, “मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जयपुरवासियों के लिए मेट्रो सुविधा को और अधिक सुलभ बनाने की दिशा में बड़ा निर्णय किया है। उन्होंने जयपुर मेट्रो के चरण 1-सी के निर्माण के लिए 993.51 करोड़ रुपये की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है।”

प्रवक्ता के मुताबिक, यह चरण बड़ी चौपड़ को ट्रांसपोर्ट नगर से जोड़ेगा और इसकी कुल लंबाई 2.85 किलोमीटर होगी, जिसमें 2.26 किलोमीटर भूमिगत एवं 0.59 किलोमीटर एलिवेटेड भाग शामिल है। प्रवक्ता के अनुसार, जयपुर मेट्रो के फेज 1-सी के निर्माण के बाद बड़ी चौपड़ से दिल्ली-आगरा हाइवे पर ट्रांसपोर्ट नगर तक मेट्रो का संचालन हो सकेगा।

उन्होंने बताया कि गहलोत के इस निर्णय से शहर की यातायात व्यवस्था में सुधार आएगा और आमजन को दिल्ली-आगरा हाइवे तक मेट्रो की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री द्वारा वित्तीय वर्ष 2022-23 के बजट में जयपुर मेट्रो का विस्तार करते हुए फेज 1-सी और फेज 1-डी के निर्माण की घोषणा की गई थी। अक्टूबर 2022 में जयपुर मेट्रो के फेज 1-डी के निर्माण के लिए 204.81 करोड़ रुपये की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की जा चुकी है। अभी जयपुर में मानसरोवर से बड़ी चौपड़ तक मेट्रो सेवा उपलब्ध है।

पेट्रोल-सीएनजी इंजन के मारुति सुजुकी मॉडल

पेट्रोल-सीएनजी इंजन के मारुति सुजुकी मॉडल

इकबाल अंसारी   

नई दिल्ली। अपनी दो बेहद लोकप्रिय कारों का न्यू जेनेरेशन मॉडल लॉन्च कर सकते हैं।इसमें मारुति सुजुकी स्विफ्ट हैचबैक और डिजायर कॉम्पैक्ट सेडान शामिल है। मारुति सुजुकी डिजायर अपने सेगमेंट की पहली ऐसी कार होगी जो स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड के साथ आएगी। इस बार, कार निर्माता स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड टेक्नोलॉजी और माइलेज पर खास ध्यान देगी।

ये दोनों मॉडल 2024 के पहले क्वार्टर तक मार्केट में आ जाएगी। नई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह कार नए 1.2L पेट्रोल इंजन 3 सिलेंडर सेटअप के साथ आएगी। इस मोटर में टोयोटा के स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड टेक का इस्तेमाल किया जाएगा।

नई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह कार नए 1.2L पेट्रोल इंजन 3 सिलेंडर सेटअप के साथ आएगी। इस मोटर में टोयोटा के स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड टेक का इस्तेमाल किया जाएगा। नई स्विफ्ट और डिजायर 35 से 40 किमी प्रति लीटर का एआरएआई-प्रमाणित माइलेज देगी। अगर ऐसा होता है तो दोनों मॉडल देश में सबसे ज्यादा माइलेज वाले वाहन बन जाएंगे। इस अपडेट के साथ, नई स्विफ्ट और डिजायर आगामी (कॉर्पोरेट एवरेज फ्यूल इकोनॉमी) स्टैंडर्ड्स को पूरा करेंगी।

सीएनजी ऑप्शन

वर्तमान में, Maruti Suzuki डिजायर 1.2 लीटर, 4-सिलेंडर K12N डुअलजेट पेट्रोल इंजन के साथ आता है जो स्विफ्ट में भी ड्यूटी करता है। इसे 5-स्पीड मैनुअल या एएमटी गियरबॉक्स के साथ रखा जा सकता है। कॉम्पैक्ट सेडान का मैनुअल वेरियंट 23.26kmpl का माइलेज दे सकती है और एटीएम वेरिएंट 24.12kmpl देता है। मौजूदा पेट्रोल इंजन और सीएनजी भी मारुति सुजुकी मॉडल लाइनअप पर उपलब्ध होगा।

जयपुर मेट्रो निर्माण के लिए 993.51 करोड़ स्वीकृत

जयपुर मेट्रो निर्माण के लिए 993.51 करोड़ स्वीकृत 

नरेश राघानी 

मुख्यमंत्री गहलोत ने जयपुरवासियों के लिए मेट्रो सुविधा को और अधिक सुलभ बनाने की दिशा में अहम निर्णय लिया है। उन्होंने जयपुर मेट्रो के फेज 1-सी के निर्माण के लिए 993.51 करोड़ रूपए की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की है। यह फेज बड़ी चौपड़ को ट्रांसपोर्ट नगर से जोड़ेगा, जिसकी कुल लंबाई 2.85 किलोमीटर है। इसमें 2.26 किमी भूमिगत एवं 0.59 किमी एलिवेटेड भाग रहेगा। प्रस्ताव के अनुसार, जयपुर मेट्रो के फेज 1-सी के निर्माण के बाद बड़ी चौपड़ से दिल्ली-आगरा हाइवे पर ट्रांसपोर्ट नगर तक मेट्रो का संचालन हो सकेगा। सीएम गहलोत के इस निर्णय से शहर की यातायात व्यवस्था में सुधार आएगा। साथ ही आमजन को दिल्ली-आगरा हाइवे तक मेट्रो की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी।

राज्य सरकार विरासत के संरक्षण तथा जयपुर शहर के मूल ऎतिहासिक स्वरूप को बनाए रखने कृतसंकल्पित है। राज्य सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि भूमिगत निर्माण के लिए अत्याधुनिक मेट्रो रेल प्रौद्योगिकी का उपयोग करके चारदीवारी की विरासत को संरक्षित रखा जाए। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री द्वारा वित्तीय वर्ष 2022-23 के बजट में जयपुर मेट्रो का विस्तार करते हुए फेज 1-सी एवं फेज 1-डी के निर्माण की घोषणा की गई थी। अक्टूबर 2022 में जयपुर मेट्रो के फेज 1-डी के निर्माण के लिए 204.81 करोड़ रूपए की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की जा चुकी है। वर्तमान में जयपुर में मानसरोवर से बड़ी चौपड़ तक मेट्रो संचालित है।

भारत जोड़ो यात्रा, के लिए सुरक्षा-व्यवस्थाएं की 

भारत जोड़ो यात्रा, के लिए सुरक्षा-व्यवस्थाएं की 

अमृतांशी जोशी   

भोपाल। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सीएम शिवराज का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में सबका स्वागत है। मध्य प्रदेश की धरती पर जो भी आएगा, उनका स्वागत है। सभी को सुरक्षा पूरी तरह से दी जाएगी। सुरक्षा हमारी जवाबदारी है। सभी निर्देश दिए जा चुके हैं। सारी व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

मध्यप्रदेश में राहुल गांधी की थ्री लेयर की सिक्योरिटी में यात्रा रहेगी। ड्रोन और सर्विलांस कैमरा से नजर रखी जाएगी। 23 नवंबर को यात्रा बुरहानपुर के रास्ते मध्यप्रदेश में एंटर करेगी। थ्री लेयर सुरक्षा व्यवस्था में 500 से ज्यादा जवान तैनात रहेंगे। फर्स्ट लेयर में पुलिस जवान रस्सी का घेरा लेकर चलेंगे। स्थानीय पुलिस के साथ SAF, CRPF की बटालियन भी तैनात रहेगी। कांग्रेस विधायक उमंग सिंघार पर लगे आरोपों को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा बयान दिया है। सीएम ने कहा कि सरकार ऐसे मामलों में इंटरफ़ेयर नहीं करती है। किसी ने कहा है कि ये पूरे मामले में भारतीय जनता पार्टी का हाथ है। हम ना तो किसी को बचाएंगे, ना ही किसी को फंसाएंगे। ऐसे मामलों में ऐसी बातें कैसे की जा सकती है।

सीएम शिवराज ने कहा कि कानून और पुलिस पूरी तरह अपना काम कर रही है। अगर कोई पीड़ित शिकायत लेकर जाता है, तो उसको सुनना पुलिस की ड्यूटी है। हम नेता है. कई अलग अलग जगहों से आते हैं, पर ये सब कहना ग़लत है। जो भी आवश्यक कार्रवाई होगी, वो करना पुलिस का काम और ड्यूटी है। अगर शिकायत हुई है, तो आवश्यक जांच और कार्रवाई भी होगी। कल कांग्रेस ने BJP पर हथकंडे अपनाने के आरोप लगाए थे।

यूके में निर्मित 11 दवाओं के सैंपल हुए फेल

यूके में निर्मित 11 दवाओं के सैंपल हुए फेल

पंकज कपूर   

देहरादून। उतराखंड में बनी 11 दवाएं भी शामिल हैं। दवा नियंत्रण विभाग की ओर से कराई गई सैंपलिंग के बाद यह खुलासा हुआ है। दवा के सैंपल फेल होने के बाद उत्तराखंड के राज्य औषधि नियंत्रक ने दवा कंपनियों को नोटिस जारी कर दवाओं को बाजार से वापस मंगा दिया है।केंद्रीय और राज्य का दवा नियंत्रण विभाग हर साल दवाओं की जांच करता है। क्वालिटी कंट्रोल के तहत होने वाली इस जांच के तहत देश भर से दवाओं के सैंपल लिए जाते हैं। इसी के तहत इस साल विभिन्न कंपनियों की 1200 दवाओं के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे।

उत्तराखंड औषधि नियंत्रण विभाग के ड्रग कंट्रोलर ताजबर जग्गी ने बताया कि जिन कंपनियों के सैंपल फेल पाए गए हैं उन्हें नोटिस जारी किया गया है। साथ ही दवाओं को बाजार से वापस मंगाया गया है।उत्तराखंड में बनी जिन दवाओं के सैंपल फेल पाए गए, उनमें आयरन की गोली ड्राइड फेरियस, प्रोस्टेट की दवा सिलोडोसिन, स्टेयरॉयड प्रीडेस फोर, विटामिन आक्टोकैप, ब्लड प्रेशर की दवा इनालेप्रिल, कोलेस्ट्रोल की दवा पिलोग्रेल, एंटीबायोटिक क्लेरिफोर्ड और खांसी में प्रयुक्त होने वाली एंटी एलर्जिक मोंटेल्यूकॉस्ट शामिल हैं। जिन दवाओं के सैंपल फेल हुए हैं, वह नकली नहीं हैं। कुछ दवाएं तय मानक से हार्ड तो कुछ अधिक ड्राइ हो गई। लिहाजा ये मानक पर खरी नहीं उतरीं।

अग्रणी राज्यों में शामिल करने के लिए चिंतन शिविर

अग्रणी राज्यों में शामिल करने के लिए चिंतन शिविर

पंकज कपूर   

देहरादून। उत्तराखंड को 2025 तक देश के अग्रणी राज्यों में शामिल करने के लिए धामी सरकार ने आज से चिंतन शिविर शुरू किया है। यह चिंतन शिविर मसूरी स्थित लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी के अकादमी के सरदार पटेल सभागार में हो रहा है। शिविर का शुभारंभ सीएम धामी ने किया। शिविर में सीएम पुष्कर सिंह धामी, नीति आयोग के उपाध्यक्ष, राज्य सरकार के सचिव, विभागाध्यक्ष सहित तमाम उच्च अधिकारियों ने शिरकत की। बता दें कि राज्य के विकास का रोडमैप तैयार करने के लिए सरकार का यह पहला चिंतन शिविर है।सीएम ने कहा चिंतन शिविर से जो अमृत निकलेगा उससे हमारा उत्तराखंड जरूर आगे बढ़ेगा। साथ ही सभी को चिंतन के साथ चिंता भी करनी होगी कि उत्तराखंड हमारा श्रेष्ठ राज्य बने। 2025 तक उत्तराखंड को देश के अग्रणी राज्यों में शामिल करने के लिए सरकार तेजी से काम कर रही है। शिविर में उत्तराखंड के सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर चर्चा की जाएगी। कैसे राज्य पांच से दस सालों में आगे बढे़ इसका रोडमैप तैयार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि किस प्रकार राज्य की अर्थव्यवस्था आगे बढे़ और लोगों का जीवन स्तर ऊपर उठे इसके लिए तेजी से सरकार काम कर रही। हमारे मंत्रियों और अधिकारियों का जगह-जगह प्रवास हो, दूर दराज के इलाकों में सभी लोग प्रवास कर लोगों की समस्याओं का समाधान हो। 

कहा विकास का मॉडल पुराने समय में लखनऊ में बनकर तैयार होता था और वहीं से योजनाएं बनती थी, लेकिन अब केवल देहरादून में रहकर योजनाएं नहीं बने बल्कि सीमावर्ती क्षेत्र में बने और इसके लिए सबकी जवाबदेही तय हो। कहा जो मूल्याकंन हो इस बात पर हो कि कितने रिजल्ट निकले हैं,कितना किसने परफॉर्म किया, किसने अच्छा कार्य किया और किसने आउटपुट दिया।

आज पहले दिन राज्य की आर्थिकी और मानव विकास संकेतकों पर प्रस्तुतिकरण होगा। नीति आयोग के उपाध्यक्ष सुमन बेरी और अकादमी के निदेशक का भी व्याख्यान होगा। प्रमुख सचिव आवास आनंद बर्धन, नीति आयोग के सलाहकार डॉ. कुंदन कुमार शहरीकरण पर वक्तव्य देंगे। प्रमुख सचिव लोनिवि आरके सुधांशु का व्याख्यान पर्वतीय क्षेत्रों में सड़कों के निर्माण में तकनीक के बदलाव पर होगा। इसी तरह शासन के आला अधिकारी अपने-अपने विभागों से जुड़े विकास के रोडमैप को चिंतन शिविर में रखेंगे और इस पर विशेषज्ञ चर्चा करेंगे।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन




प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-42, (वर्ष-06)

2. बुधवार, नवंबर 23, 2022

3. शक-1944, मार्गशीर्ष, कृष्ण-पक्ष, तिथि- चतुर्दशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:45, सूर्यास्त: 05:25। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 12 डी.सै., अधिकतम- 24+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...