सोमवार, 28 फ़रवरी 2022

रूस के खिलाफ लड़ाई, यूक्रेन का समर्थन करेंगे देश

रूस के खिलाफ लड़ाई, यूक्रेन का समर्थन करेंगे देश    

अखिलेश पांडेय        
कीव/मास्को। यूक्रेन ने रूस को पिछले चार दिनों से कीव के बाहर रोक कर रखा है। इस बीच यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने कहा है कि, अगले 24 घंटे यूक्रेन के लिए सबसे कठिन होने वाले हैं। वहीं, जी 7 नेताओं ने यूक्रेन के विदेश मंत्री से बात की। उन्होंने कहा कि रूस के खिलाफ लड़ाई में सभी देश यूक्रेन का समर्थन जारी रखेंगे। इधर, रूसी हमलों में यूक्रेन के 352 आम नागरिकों की मौत हुई है। इसमें 14 बच्चे भी शामिल हैं। 
यूएनजीए में विशेष आपात सत्र के दौरान यूरोपीय संघ (ईयू) के प्रतिनिधि ने कहा कि हम यूक्रेन के साथ वित्तीय और मानवीय सहयोग के साथ खड़े रहेंगे। रूस ने शांति से मुंह फेर लिया है। हम रूस से मांग करते हैं कि वह अपना अकारण हमला बंद करे और ऐसी किसी भी कार्रवाई से बचे जिससे यूक्रेन में परमाणु ऊर्जा प्लांट को खतरा हो सकता है। रूस को अपना अभियान बंद करना चाहिए, अपनी सेना वापस बुलानी चाहिए और मानवीय कानून का पालन करना चाहिए। बेलारूस में रूस और यूक्रेन के प्रतिनिधिमंडलों के बीच बातचीत समाप्त हो गई है।
रूस के प्रतिनिधि ने साधा अमेरिका पर निशाना
यूएनजीए के विशेष आपात सत्र के दौरान रूस के प्रतिनिधि ने कहा कि यूक्रेन और जॉर्जिया की ओर से नाटो में शामिल होने के लिए एक्शन प्लान बनाया जा रहा था। उनकी (अमेरिका) की नीति रूस विरोधी यूक्रेन तैयार करने की है और यह सुनिश्चित करने की है कि वह नाटो में शामिल हो जाए। यूक्रेन का नाटो में शामिल होना एक रेड लाइन है, जिसने हमें संघर्ष के बिंदु पर ला दिया है। 
उन्होंने कहा कि रूसी संघ ने इस शत्रुता की शुरुआत नहीं की है। यह यूक्रेन के निवासियों और असंतुष्टों ने फैलाया है। रूस इस युद्ध को समाप्त करना चाहता है।
ईयू की सदस्यता के लिए यूक्रेन ने किया आवेदन।
यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने यूरोपीय संघ (ईयू) की सदस्यता के लिए एक आवेदन पर हस्ताक्षर किए हैं। यूक्रेन की संसद ने इसका ऐलान किया है। संयुक्त राष्ट्र में रूस के दूत ने कहा है कि मास्को की योजना यूक्रेन पर कब्जा करने की नहीं है।

प्रयागराज: बच्चों ने कहानी-कविता का मंचन किया

प्रयागराज: बच्चों ने कहानी-कविता का मंचन किया    

बृजेश केसरवानी         
प्रयागराज। बेसिक शिक्षा विभाग के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है। जब इतने बच्चे ऑनलाइन क्लास से जुड़े और कहानी-कविता का मंचन किया। बच्चों का उत्साह देखकर डाइट प्राचार्य कमलेश बाबू ने अपने संबोधन में कहा कि ऐसे आयोजन अक्सर किए जाने चाहिए। जिससे बच्चों की प्रतिभा को निखारने का मौका मिले। 
वही, डीसी.प्रशिक्षण डॉ.विनोद मिश्र ने भी अपने आशीर्वचन बच्चों को दिए और उन्होंने कहा कि इससे बच्चों की मौलिक अभिव्यक्ति का विकास होता है। साथ ही वह अपनी बातों को कह पाने में मुखर बनते हैं। इस तरह से पहली बार इन बच्चों ने और शिक्षकों ने भी उत्साह दिखाया और प्रयागराज के बेसिक शिक्षा के इतिहास में एक नया आयाम लिख दिया। बहुत सारे बच्चों के वीडियोस टेलीग्राम लिंक पर भी एकत्र किए गए हैं। उनकी मदद से उस प्रत्येक बच्चे को प्रमाण-पत्र दिए जाने की भी योजना बनाई जा रही है। एक फीडबैक लिंक के द्वारा इन बच्चों को प्रमाण पत्र दिए जाना प्रस्तावित है। 
जिले के बेसिक शिक्षा विभाग के मुखिया,जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रवीण तिवारी के निर्देशन में पूरे जिले में यह ऑनलाइन " कहानी पढ़ो- कहानी सुनाओ " का आयोजन किया गया। जिसमें पूरे प्रयागराज के साथ-साथ सहारनपुर और झांसी ने भी अपनी प्रस्तुति दी। शिक्षिकाओं में जहां रिशु मिश्र, डाली, रेखा सिंह, शांति भूषण द्विवेदी, संजय जयसवाल, मोहम्मद शहजाद सरोज, मुकेश कुमार श्रीवास्तव, रीता गुप्ता सहारनपुर से और झांसी से निधि, संध्या जायसवाल, रूबी, सबा रिज्वी, ममता विश्वकर्मा, सबा करीम, गजाला शबनम, विनम्रता तिवारी, विजयलक्ष्मी, मधुलिका सिंह, मीनाक्षी समेत अनेक शिक्षक अपने अपने बच्चों के साथ जुड़े और सभी ब्लॉक के शिक्षकों व बच्चों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। सभी शिक्षकों ने कहा कि अब भविष्य में भी इस प्रकार के आयोजन किए जाएंगे।

कौशाम्बी: 28 को सेवानिवृत्त हुए विद्यालय के प्राचार्य

कौशाम्बी: 28 को सेवानिवृत्त हुए विद्यालय के प्राचार्य    

गणेश साहू        
कौशाम्बी। श्री दुर्गा देवी, संस्कृत, उ. मा. विद्यालय मंझनपुर के प्राचार्य डॉ. रवींद्र नाथ शुक्ल 28 फरवरी को सेवानिवृत्त हुए। इस अवसर पर विद्यालय में एक विदाई समारोह का आयोजन हुआ। कार्यक्रम की शुरुआत भारतीय संस्कृति की विधा द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार से हुईं।जिसमें विद्यालय के सभी शिक्षकगणों में वरिष्ठ आचार्य राजेश त्रिपाठी, नव नियुक्त प्राचार्य डॉ. दिवाकर मिश्र आचार्य, डॉ. ज्ञानेश्वर त्रिपाठी, मुकेश चंद्र त्रिपाठी, अभिषेक मिश्र गोल्डमेडलिस्ट के साथ जनपद के वरिष्ठ अधिवक्ता उपेन्द्र नाथ शुक्ल सहित अन्य अधिवक्ता साथियों ने तिलक कर माल्यार्पण करते हुए डॉ.शुक्ल का सम्मान किया। 
यह संस्कृत विद्यालय प्रदेश में विख्यात है। क्योंकि यह पूर्णतया आवासीय विद्यालय है। जिसमें निःशुल्क आवास भोजन की व्यवस्था है। कार्यक्रम में डॉ. शुक्ल ने अपने संबोधन के माध्यम से आगे भी विद्यालय को गतिशील बनाने के लिए हर प्रकार से अपना योगदान देने की बात कही। 
कार्यक्रम में शिक्षकों ने भी अपने विचार प्रस्तुत कर विद्यालय के बच्चों का सर्वांगीण विकास करने का संकल्प किया। इस अवसर पर विद्यालय के संरक्षक रामकृष्ण तिवारी, राजकुमार पांडेय, प्रेमचन्द्र शुक्ल, आशीष, रिशु, अंकित, हिमांशु, रोहित, राज, अंकुश दुबे आदि लोग उपस्थित रहे।

गाजियाबाद के मार्गों पर ट्रैफिक डायवर्जन प्लान लागू

गाजियाबाद के मार्गों पर ट्रैफिक डायवर्जन प्लान लागू 

अश्वनी उपाध्याय       
गाजियाबाद। महाशिवरात्रि के पर्व पर गाज़ियाबाद ट्रैफिक पुलिस ने जिले के कुछ प्रमुख मार्गों पर ट्रैफिक डायवर्जन प्लान लागू किया है। यह प्लान 28 फरवरी की रात 12 बजे से महापर्व की समाप्ति तक लागू रहेगा। एसपी ट्रैफिक ने बताया कि डायवर्जन प्लान इस प्रकार है।
लाल कुआं से हापुड़ तिराहा की ओर जाने वाले सभी प्रकार के बड़े/भारी वाहन सीधे हापुड़ तिराहा की ओर नहीं जा सकेंगे। ये वाहन साजन मोड़, हापुड़ चुंगी होकर अपने गंतव्य को जा सकेंगे।
मेरठ तिराहा से लाल कुआं की ओर जाने वाले सभी प्रकार के बड़े/भारी वाहन हापुड़ तिराहा की ओर सीधे नहीं जा सकेंगे। ये वाहन मेरठ तिराहा, राजनगर एक्सटेंशन चौराहा (एएलटी चौराहा) होकर अपने गंतव्य को जा सकेंगे।
मेरठ तिराहा से लाल कुआं की ओर व लाल कुआं से मेरठ तिराहा की ओर जाने वाले सभी छोटे वाहन ठाकुरद्वारा (हापुड़ तिराहा) फ्लाई ओवर का प्रयोग कर सीधे अपने गंतव्य को जा सकेंगे।
हापुड़ तिराहा से घंटाघर की ओर जाने वाले सभी प्रकार के छोटे वाहनों का घंटाघर की ओर आवागमन पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगा। ये छोटे वाहन हापुड़ तिराहा से पुराना बस अड्डा होकर अपने गंतव्य को जा सकेंगे।
गौशाला फाटक से दुद्धेश्वरनाथ मंदिर की ओर सभी प्रकार के यातायात का आवागमन पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगा।

लगातार 'ग्रीन-टी' का सेवन करना नुकसानदायक

लगातार 'ग्रीन-टी' का सेवन करना नुकसानदायक     

मो. रियाज         

आमतौर पर ज्यादातर लोग मानते हैं कि ग्रीन-टी का सेवन करने से वजन कम किया जा सकता है। लेकिन अगर आप भी लगातार ग्रीन-टी का सेवन कर रहे हैं तो थोड़ा सावधान रहे। क्योंकि, ज्यादा ग्रीन-टी पीने से कई प्रकार की बीमारियां आपको घेर सकती हैं। इसमें सिरदर्द, सुस्ती, सुस्ती, चिंता और चिड़चिड़ापन शामिल है, तो चलिए डिटेल्स में जानते है। इसके अलावा ग्रीन-टीन पीने से किस प्रकार के नुकसान हो सकते है।

ज्यादा ग्रीन-टी पीने से नींद की समस्या होगीं: माना जाता है कि ग्रीन का ज्यादा सेवन करने से आपको नींद नहीं आने की परेशानी हो सकती है। सभी जानते हैं कि एक फिट बॉडी और अच्छी सेहत के लिए अच्छी और भरपूर नींद लेना बहुत जरूरी होता है। इसलिए ग्रीन-टी का सेवन सही मात्रा में करना चाहिए।

बढ़ सकता हैं ब्लड प्रेशर: ब्लड प्रेशर की समस्या भी ज्यादा ग्रीन-टी पीने से बढ़ सकती है। माना जाता है कि ग्रीन-टी में मौजूद कैफीन हमारी नर्वस सिस्टम को प्रोएक्टिव करने का काम करता है। इसके ज्यादा सेवन से कई समस्या का सामना करना पड़ सकता है। जिससे आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी हो सकती है।

हो सकती हैं आयरन की कमी: इसके अलावा आप अधिक मात्रा में ग्रीन-टी का सेवन करते हैं तो आपके शरीर में आयरन की कमी हो सकती है। इसके अलावा आपको भूख लगना भी कम हो जाती है। जिसके चलते आपका शरीर कमजोर भी हो सकता है। ऐसे में आप कई बीमारियों को बुलावा देते हैं।

खाली पेट ग्रीन-टी पीने से होती हैं ये दिक्कत: अगर आप भी खाली पेट ग्रीन-टी पीते हैं तो जरा सावधान हो जाइए। क्योंकि इससे आपको एसिडिटी की समस्या हो सकती है। माना जाता है कि कुछ खाने के बाद ही ग्रीन-टी का सेवन करना चाहिए। रिपोर्ट के मुताबिक, ग्रीन-टी में मौजूद कैफीन से घबराहट, चक्कर, डायबिटीज, कब्ज, जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं।

762 अंक टूटकर 55,096 के स्तर पर खुला सेंसेक्स

762 अंक टूटकर 55,096 के स्तर पर खुला सेंसेक्स   

कविता गर्ग       

मुंबई। सप्ताह के पहले दिन सोमवार को शेयर बाजार एक बड़ी गिरावट के साथ लाल निशान पर खुला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 762 अंक टूटकर 55,096 के स्तर पर खुला। जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी सूचकांक ने 221 अंक की गिरावट के साथ 16,437 के स्तर पर कारोबार शुरू किया। यूक्रेन पर हमले का असर ग्लोबल मार्केट पर साफ-साफ दिख रहा है। सोमवार को शेयर बाजार गिरावट के साथ खुला और शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में 1000 अंकों से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई। सोमवार को सेंसेक्स 529 अंकों की गिरावट के साथ 55329 पर और निफ्टी 176 अंकों की गिरावट के साथ 16481 के स्तर पर खुला।

सोमवार को सेंसेक्स 933 अंकों की गिरावट के साथ 54925 के स्तर पर और निफ्टी 225 अंकों की गिरावट के साथ 16433 के स्तर पर ट्रेड कर रहा था। इस समय सेंसेक्स के टॉप-30 में 27 शेयर गिरावट के साथ और तीन शेयर तेजी के साथ ट्रेड कर रहे हैं। पावरग्रिड, टाटा स्टील और सनफार्मा में तेजी है। एशियन पेंट्र, डॉ रेड्डी और एचडीएफीस बैंक में सबसे ज्यादा गिरावट है। बाजार के जानकारों का कहना है कि अभी दबाव जारी रहेगा। 16800-17065 पर मजबूत रेसिसटेंस है। इस जोन में बिकवाली का दबाव बढ़ जाता है। जब तक निफ्टी 16550 के ऊपर मजबूती से बंद नहीं होता है, दबाव की स्थिति बनी रहेगी।

यूके: 24 घंटे में कोरोना के 61 नए मामलें मिलें

यूके: 24 घंटे में कोरोना के 61 नए मामलें मिलें       

पंकज कपूर      

देहरादून। उत्तराखंड में वैश्विक महामारी कोविड-19 संक्रमण का प्रकोप थमने लगा है। राज्य में कोरोना वायरस मामलों में निरंतर कमी आ रही है। लेकिन खतरा अभी टला नहीं है। पिछले 24 घंटे के दौरान प्रदेश के सभी 13 जनपदों में कोरोना वायरस के कुल 66 नये मामले सामने आए है। जबकि तीन कोरोना मरीजों की मौत हुई है। 

सोमवार को उत्तराखंड स्टेट कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, राज्य में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के कुल 61 नए मामले सामने आए है। जबकि राज्य में 120 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। वही, दैनिक पॉजिटिविटी रेट की बात करें तो 0.87 फ़ीसदी पर पहुंच गई है। इधर राज्य के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती तीन कोरोना मरीजों की मौत भी हुई है।

सीजी: 'अधिवक्ता सुरक्षा काननू' लागू करने की मांग

सीजी: 'अधिवक्ता सुरक्षा काननू' लागू करने की मांग    

दुष्यंत टीकम    

रायपुर। छत्तीसगढ़ में अधिवक्ता सुरक्षा काननू लागू करने की मांग को लेकर वकीलों ने राजस्व अधिकारियों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। दरअसल रायगढ़ जिले में हुए अधिवक्ता के खिलाफ झूठी एफआईआर को लेकर अधिवक्ता संघ में काफी आक्रोश है। वही रायपुर के वकीलों द्वारा कोई काम नहीं किया जा रहा है। 

वकीलों का कहना है, कि रायगढ़ जिले के तहसीलदार और वहां के कर्मचारी ने दुर्व्यवहार किया। अधिवक्ता के विरोधी प्रकरण बनाए हैं। अधिवक्ता साथी न्यायिक अभिरक्षा में भी उच्च न्यायालय की जमानत पर छूट गए हैं। सोमवार को वकीलों ने इस मांग को लेकर राज्यपाल को ज्ञापन सौपा है।

फिल्म 'गहराइयां' को लेकर चर्चा में दीपिका, इंटरव्यू

फिल्म 'गहराइयां' को लेकर चर्चा में दीपिका, इंटरव्यू     

कविता गर्ग     

मुंबई। दीपिका पादुकोण बॉलीवुड की उन एक्ट्रेसेस में से एक हैं। जिन्होंने अपनी मेहनत के दम पर एक बड़ा मुकाम हासिल किया है। दीपिका इंडस्ट्री की टॉप मोस्ट और हाईएस्ट पेड एक्ट्रेसेस में शुमार की जाती हैं। इन दिनों एक्ट्रेस अपनी फिल्म गहराइयां को लेकर चर्चा में हैं। दीपिका की एक्टिंग को काफी पसंद किया जा रहा है। इसी बीच एक्ट्रेस ने अपने एक इंटरव्यू में बताया है कि उन्हें जिंदगी में कौन सी सबसे अच्छी और सबसे खराब सलाह मिली है।

दीपिका पादुकोण ने फिल्मफेयर संग बातचीत में अपनी जिंदगी की सबसे खराब सलाह को याद करते हुए कहा कि जब वो सिर्फ 18 साल की थीं, तब किसी ने उन्हें ब्रेस्ट इम्प्लांट कराने की सलाह दी गई थी।
दीपिका ने उनको मिली सबसे बेस्ट एडवाइस के बारे में भी बताया। दीपिका का कहना है कि उन्हें सबसे अच्छी सलाह शाहरुख खान से मिली है। दीपिका ने कहा- शाहरुख खान ने काफी अच्छी सलाह दी है और मुझे उनसे बहुत सारी अच्छी एडवाइसेस मिली हैं।
एक्ट्रेस ने आगे कहा- मुझे उनसे मिली सबसे खास सलाह में से एक थी कि हमेशा उन लोगों के साथ काम करो, जिन्हें आप जानते हैं कि उनके साथ आपका अच्छा समय बीतने वाला है, क्योंकि जब आप एक फिल्म बना रहे होते हैं तो आप अपनी लाइफ भी जी रहे होते हैं। मेमोरीज और एक्सपीरियंस क्रिएट कर रहे होते हैं।
दीपिका ने आगे कहा- मुझे जो सबसे खराब सलाह मिली थी वो थी ब्रेस्ट इम्प्लांट कराने की। मैं उस समय 18 साल की थी और मुझे अक्सर आश्चर्य होता है कि मेरे पास इसे गंभीरता से न लेने की समझदारी कैसे थी। 'दीपिका पादुकोण के वर्क फ्रंट की बात करें तो उनकी लेटेस्ट फिल्म गहराइयां एमेजन प्राइम वीडियो पर स्ट्रीम की जा रही है। एक्ट्रेस शाहरुख खान के साथ फिल्म पठान में भी काम कर रही हैं। ऋतिक रोशन के साथ दीपिका पहली बार फाइटर फिल्म में नजर आने वाली हैं।

अलग-अलग जोन में कुल 13 दिन तक बंद रहेंगे बैंक

हालांकि, अभी भी कुछ काम ऐसे हैं, जिनके लिए आपको बैंक जाना पड़ता है। जैसे- चेक क्लियरेंस या केवाईसी के लिए आपको बैंक की ब्रांच में जाना ही पड़ता है। ऐसे में आपको यह पता होना चाहिए कि बैंक कब खुला रहेगा और कब बंद रहेगा। फरवरी का महीना करीब-करीब जा चुका है। इसलिए, हम आपको मार्च महीने के बैंक हॉलिडे के बारे में जानकारी देने वाले हैं। मार्च में साप्ताहिक अवकाश मिलाकर अलग-अलग जोन में कुल 13 दिन बैंक बंद रहेंगे। आरबीआई के अनुसार, मार्च 2022 में त्योहारों और अन्य विशेष अवसरों के कारण अलग-अलग जोन में कुल सात दिन बैंक बंद रहेंगे। इसके अलावा रविवार और हर महीने की दीसरे तथा चौथे शनिवार को बैंक बंद ही रहते हैं।

छठी फ्लाइट ने 'ऑपरेशन गंगा' के तहत भरीं उड़ान

छठी फ्लाइट ने 'ऑपरेशन गंगा' के तहत भरीं उड़ान    

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। बुडापेस्ट (हंगरी) से छठी फ्लाइट ने ऑपरेशन गंगा के तहत उड़ान भरी है। जिसमें 240 भारतीय नागरिकों को दिल्ली वापस लाया जा रहा है। इसकी जानकारी विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने दी है।बता दें कि ऑपरेशन गंगा के तहत यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को भारत लाने का सिलसिला जारी है। ऑपरेशन गंगा की पांचवीं फ्लाइट जब दिल्ली एयरपोर्ट पहुंची तो छात्रों का जोर-शोर से स्वागत हुआ। मां बाप, दोस्त, परिवार सुबह से टकटकी लगाए अपने परिजनों के बाहर आने का इंतजार करते दिखे। कोई गुलदस्ते तो कोई फूल माला लिए इन छात्रों का इंतजार कर रहा था। यूक्रेन से वापस आये छात्र वहां के हालात बताते हुए भावुक हो गए। 
छात्रों ने बताया कि उनके घर के आसपास ही बमबारी हो रही थी। उम्मीद नहीं थी कि बच पाएंगे, वहां से निकलना तो बहुत दूर की बात थी। एक छात्रा बताती हैं कि रोमानिया बॉर्डर पर हजारों बच्चे घर जाने के लिए दो दिन से खड़े हैं। छात्रों में धक्का-मुक्की हो रही है। ना खाने की सुविधा है ना पानी की। बेसिक सुविधाएं ना होने की वजह से छात्रों को नरक जैसे हालातों से गुजरना पड़ रहा है। वापस आये छात्र अब अपने उन साथियों के लिए चिंता में हैं जो अभी भी वहां फंसे हुए हैं।

आज भारत लौटे छात्रों के परिजन बेहद खुश और भावुक नजर आए। एक छात्र की मां बताती हैं कि चिंता की वजह से परिवार ना तो खाना खा पा रहा था और ना ही सो पा रहा था। आज बेटा वापस लौट आया है तब जाकर सुकून मिला है। भारत सरकार का बहुत शुक्रिया है, जिन्होंने हमें बच्चों से मिलवा दिया।

दूध की कीमतों में ₹2 प्रति लीटर की बढ़ोतरी: अमूल

दूध की कीमतों में ₹2 प्रति लीटर की बढ़ोतरी: अमूल    

इकबाल अंसारी     
गांधीनगर। अमूल ने देशभर के मार्केट में दूध की कीमतों में 2 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी करने का फैसला किया है। ताजा दरों के मुताबिक, अब 1 मार्च यानी मंगलवार से अहमदाबाद और सौराष्ट्र के बाजारों में अमूल गोल्ड दूध की कीमत 30 रुपये प्रति 500 मिलीलीटर, अमूल ताजा 24 रुपए प्रति 500 मिलीलीटर, और अमूल शक्ति 27 रुपए प्रति 500 मिली मिलेगा।
गुजरात सहकारी दूध विपणन संघ ने एक वर्ष पूरा होने से पहले दूध के दामों में इजाफा कर दिया है। इससे पहले जुलाई 2021 में दूध के दाम बढ़ाए थे। यह मूल्य वृद्धि अमूल दूध के सभी ब्रांडों पर प्रभावी होगी, जिसमें सोना, ताजा, शक्ति, टी-स्पेशल, साथ ही गाय और भैंस के दूध आदि शामिल हैं।
तकरीबन 7 माह और 27 दिन के अंतराल के बाद कीमतों में बढ़ोतरी की जा रही है। कंपनी ने कहा कि उत्पादन लागत में वृद्धि कीमतों में इजाफे का कारण है।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 8,013 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 8,013 नए मामलें     

अकांशु उपाध्याय      
नई दिल्ली। भारत में कोरोना की तीसरी लहर का प्रकोप अब लगभग खत्म हो गया है। देश में दो महीने बाद पहली बार 10 हजार से कम कोरोना केस दर्ज किए गए हैं। पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 8,013 नए मामलें सामने आए और 119 संक्रमितों की मौत हो गई। अच्छी बात ये है कि पिछले 24 घंटे में 16,765 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं यानी कि 8871 एक्टिव केस कम हो गए. इससे पहले पिछले साल 29 दिसंबर को 9195 कोरोना केस आए थे।
कोरोना महामारी की शुरुआत से लेकर अबतक कुल चार करोड़ 29 लाख 24 हजार 130 लोग संक्रमित हुए हैं। इनमें से 5 लाख 13 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। अबतक 4 करोड़ 23 लाख लोग ठीक भी हुए हैं। देश में कोरोना एक्टिव केस की संख्या करीब 1 लाख है। कुल 1 लाख 2 हजार 601 लोग अभी भी कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, जिनका इलाज चल रहा है।
कोरोना कुल मामले: 4 करोड़ 29 लाख 24 हजार 130।
सक्रिय मामले: 1 लाख 2 हजार 601।
कुल रिकवरी: 4 करोड़ 23 लाख 7 हजार 686।
कुल मौतें: 5 लाख 13 हजार 843।
कुल वैक्सीनेशन: 177 करोड़ 50 लाख 86 हजार 335। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, 27 फरवरी 2022 तक देशभर में 177 करोड़ 50 लाख 86 हजार कोरोना वैक्सीन के डोज दिए जा चुके हैं। बीते दिन 4 लाख 90 हजार टीके लगाए गए। वहीं भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, अबतक करीब 77 करोड़ कोरोना टेस्ट किए जा चुके हैं। बीते दिन करीब 7 लाख कोरोना सैंपल टेस्ट किए गए।
देश में कोरोना से मृत्यु दर 1.20 फीसदी है जबकि रिकवरी रेट 98.56 फीसदी है। एक्टिव केस 0.24 फीसदी हैं। कोरोना एक्टिव केस मामले में दुनिया में भारत अब 51वें स्थान पर है। कुल संक्रमितों की संख्या के मामले में भारत दूसरे स्थान पर है। जबकि अमेरिका, ब्राजील के बाद सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है।

रूस के खिलाफ वित्तीय एवं यात्रा प्रतिबंध लागू किया

रूस के खिलाफ वित्तीय एवं यात्रा प्रतिबंध लागू किया    

अखिलेश पांडेय  
कैनबरा। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने सोमवार को कहा कि ऑस्ट्रेलिया रूस पर नए प्रतिबंध लगाने जा रहा है और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन तथा रूसी सुरक्षा परिषद के सदस्यों पर भी प्रतिबंध लगा रहा है।
प्रधानमंत्री मॉरिसन ने कहा,'पिछली रात से ऑस्ट्रेलिया, रूस के खिलाफ वित्तीय प्रतिबंध और यात्रा प्रतिबंध लागू किया। यात्रा प्रतिबंध रूसी राष्ट्रपति और रूस की सुरक्षा परिषद के शेष स्थायी सदस्यों पर लागू होगा।'
उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया ने हाल ही में स्विफ्ट से कुछ रूसी बैंकों को अलग किया है।
प्रधानमंत्री मॉरिसन ने कहा,"ऑस्ट्रेलिया रूस पर और आर्थिक प्रतिबंध लगाने के लिए सहयोगियों और समान विचारधारा वाले देशों के साथ काम करना जारी रखेगा।

सोशल मीडिया पर एक्टिव रहती हैं एक्ट्रेस नेहा: मुंबई

सोशल मीडिया पर एक्टिव रहती हैं एक्ट्रेस नेहा: मुंबई   

कविता गर्ग          

मुंबई। भोजपुरी एक्ट्रेस नेहा मलिक सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और फैंस के साथ अपनी हॉट तस्वीरें शेयर करती रहती हैं। नेहा मलिक का इंस्टाग्राम अकाउंट उनकी हॉट फोटोज से भरा पड़ा है। कई तस्वीरों में उन्होंने बोल्डनेस की सारी हदें पार कर दी हैं।नेहा की बिकिनी फोटोज को बहुत पसंद किया जाता है। वह इंटरनेट पर बोल्डनेस का तड़का लगाने से कभी नहीं चूकती हैं।

नेहा की दीवानगी का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि इंस्टाग्राम पर उनके 3 मिलियन फॉलोअर्स हैं। उनकी हॉट तस्वीरें इंटरनेट पर छाई रहती हैं। बताते चलें कि नेहा मलिक हाल ही में खेसारी लाल यादव के साथ म्यूजिक वीडियो ‘तेरे मेरे दरमियां’ में नजर आई थीं।

छत्तीसगढ़ के कई छात्र-छात्राएं, युद्ध के बीच फंसें

छत्तीसगढ़ के कई छात्र-छात्राएं, युद्ध के बीच फंसें   

दुष्यंत टीकम      

जगदलपुर। यूक्रेन में जारी युद्ध के बीच छत्तीसगढ़ के कई जिलों के छात्र-छात्राएं भी वहां फंसे हुए हैं। इनमें बस्तर के भी 40 बच्चे शामिल हैं। इन्हीं में से कुछ ने वीडियो जारी कर सरकार से उन्हें निकालने की अपील की है, साथ ही वहां के हालात के बारे में भी बताया है।यूक्रेन-रूस के इस युद्ध में फंसे छत्तीसगढ़ के बस्तर के भी बच्चे दहशत की जिंदगी जीने के लिए मजबूर हैं। यूक्रेन की राजधानी कीव और सिटी विंशसिया में दहशत का माहौल बीते 3 दिनों से बना हुआ है।

बस्तर जिले केअधिकतर छात्र यूक्रेन की राजधानी कीव में नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी में पढाई कर रहे हैं। इन्हीं में शामिल दीप्ती और उसके भाई निहाल सिंह तोमर ने हालात बयां करते हुए बताया कि रूस के द्वारा लगातार इस यूनिवर्सिटी के आसपास बम दागे जा रहे हैं और दोनों देशों की सेना के बीच जमकर गोलीबारी भी हो रही है, जिसके चलते दहशत का माहौल इस कदर है कि सायरन बजते ही सभी छात्र बंकर के नीचे छिप जाते हैं, वहां ठण्ड भी काफी ज्यादा है। फिलहाल हालात काफी खतरनाक हो गये हैं।

यूपी 'चुनाव' को लेकर गरमाया राजनीतिक माहौल

यूपी 'चुनाव' को लेकर गरमाया राजनीतिक माहौल   

संदीप मिश्र    

प्रतापगढ़। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर एक तरफ राजनीतिक माहौल गरमाया हुआ है। प्रतापगढ़ के कुंडा में रविवार को 5वें चरण की वोटिंग के दौरान सपा प्रत्याशी गुलशन यादव के काफिले पर जानलेवा हमला हुआ था। मगर, यह राजनैतिक लड़ाई अब सीधे-सीधे राजा भैया और अखिलेश यादव के बीच आकर सार्वजनिक हो गई है।

गुलशन, राजा भैया के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं। अखिलेश और राजा भैया दोनों ने एक-दूसरे पर निशाना साधा है।सुबह राजा भैया ने कहा, न तो प्रदेश में सपा की सरकार बन रही है न ही वे अखिलेश यादव को सीएम बनने देंगे। वहीं अखिलेश यादव ने कहा, शीशे तोड़ने से हौसले नहीं तोड़े जा सकते, कुंडा अब गुलशन से ही गुलशन होगा।

नई एसयूवी विटारा लॉन्च करने की तैयारी में मारुति

नई एसयूवी विटारा लॉन्च करने की तैयारी में मारुति   

अकांशु उपाध्याय      
नई दिल्ली। भारत में कॉम्पैक्ट एसयूवी के साथ ही मिडसाइज एसयूवी की भी खूब डिमांड है और इस सेगमेंट में ह्यूंदै मोटर्स, किआ मोटर्स, टाटा मोटर्स और महिंद्रा जैसी कंपनी को चुनौती देने के लिए मारुति सुजुकी भी नई एसयूवी सुजुकी विटारा लॉन्च करने की तैयारी में है।
कॉम्पैक्ट एसयूवी सेगमेंट में कंपनी की बेस्ट सेलिंग एसयूवी मारुति सुजुकी विटारा ब्रेजा के बाद कंपनी सुजुकी विटारा ला सकती है, जिसके बारे में कहा जा रहा है कि यह प्रीमियम एसयूवी एस-क्रॉस को रिप्लेस करेगी। बीते दिनों इस एसयूवी को हरियाणा के मनेसर स्थित मारुति के प्लांट के पास देखा गया है।
भारत के लिए खासतौर पर बनाई जा रही सी सेगमेंट की इस एसयूवी को मारुति सुजुकी और टोयोटा मोटर्स संयुक्त रूप से डिवेलप कर रहे हैं। टोयोटा ग्लांजा और टोयोटा अर्बन क्रूजर के बाद इस एसयूवी को आने वाले समय में मार्केट में पेश किया जा सकता है।

अभिनेत्री तब्बू ने 'भूल भुलैया 2' की शूटिंग पूरी की

अभिनेत्री तब्बू ने 'भूल भुलैया 2' की शूटिंग पूरी की     

कविता गर्ग     

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री तब्बू ने अपनी आने वाली फिल्म 'भूल भुलैया 2' की शूटिंग पूरी कर ली है। तब्बू ने अपनी आने वाली फिल्म भूल भुलैया 2 की शूटिंग पूरी कर ली है। फिल्म की शूटिंग पूरी होने की जानकारी तब्बू ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर तस्वीर शेयर कर दी है। तब्बू ने अपने इंस्टाग्राम पर फिल्म के रैपअप पार्टी की तस्वीरें शेयर की हैं, जिसमें उनके साथ पूरी कास्ट और क्रू टीम के साथ सेलिब्रेशन करती हुई दिख रही हैं। इस तस्वीर को अपने इंस्टाग्राम पर साझा कर तब्बू ने लिखा, "जिसकी शुरुआत अच्छी होती है, उसका अंत भला होता है। भूल भुलैया 2 बनाने का हमारा सफर आज समाप्त हो गया है।"

तब्बू ने इंस्टाग्राम स्टोरी पर एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें एक केक नजर आ रही हैं, जिसपर लिखा है, बहुत-बहुत धन्यवाद। इस शूटिंग को खत्म कर लिया गया है। गौरतलब है कि हॉरर कॉमेडी फिल्म भूल भुलैया 2 में कार्तिक आर्यन,कियारा आडवाणी, तब्बू, परेशा रावल, राजपाल यादव की भी अहम भूमिका है।

1 मार्च को 'एलपीजी सिलेंडर' के नए रेट होगें जारी

1 मार्च को 'एलपीजी सिलेंडर' के नए रेट होगें जारी     

अकांशु उपाध्याय     
नई दिल्ली। रूस-यूक्रेन की जंग के बीच 1 मार्च को एलपीजी सिलेंडर के नए रेट जारी होंगे। 6 अक्टूबर 2021 के बाद से घरेलू एलपीजी सिलेंडर न तो सस्ता हुआ है और न ही महंगा। अलबत्ता इस दौरान कच्चे तेल की कीमतें 102 डॉलर प्रति बैरल के पार चली गई हैं। हालांकि इस दौरान कामर्शियल सिलेंडर की कीमतों में अच्छा-खासा बदलाव देखने को मिला।
पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव को लेकर नॉन-सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर की कीमतों में कई महीने से राहत है। कच्चे तेल के दाम 102 डॉलर प्रति बैरल पार होने के बावजूद छह अक्टूर 2021 से घरेलू एलपीजी सिलेंडर के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ है।
ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि चुनाव बाद यानी 7 मार्च के बाद कभी भी गैस के दाम 100 से 200 रुपये प्रति सिलेंडर से अधिक बढ़ सकते हैं।हालांकि अक्टूबर 2021 से एक फरवरी 2022 के बीच कामर्शियल सिलेंडर के दाम 170 रुपये बढ़े हैं। दिल्ली में 1 अक्टूबर को कामर्शिय सिलेंडर का दाम 1736 रुपये था।
नवंबर में यह 2000 का हुआ और दिसंबर में 2101 रुपये का हो गया। इसके बाद जनवरी में यह फिर सस्ता हुआ और फरवरी 2022 को और सस्ता होकर 1907 रुपये पर आ गया।
634 रुपये में भी ला सकते हैं, एलपीजी सिलेंडर।
अगर घरेलू एलपीजी सिलेंडर की बात करें तो अभी दिल्ली- मुंबई में करीब 900 रुपये, कोलकाता में 926 रुपये और चेन्नई में 916 रुपये में मिल रहा है। इसमें 14.2 किलो गैस होती है। अगर आपका परिवार छोटा है और आप दिल्ली में रहते हैं तो आप 634 रुपये में भी एलपीजी सिलेंडर ला सकते हैं। हालांकि इसमें गैस केवल 10 किलो ही होगी।

ग्रुप-सी के विभिन्न पदों पर भर्ती, नोटिफिकेशन जारी

ग्रुप-सी के विभिन्न पदों पर भर्ती, नोटिफिकेशन जारी     

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। सरकारी नौकरी की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों के लिए बड़ी खबर सामने आई है। नौसेना की पश्चिमी कमान ने ग्रुप-सी के विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशेन जारी किया है। इस भर्ती का विज्ञापन 26 फरवरी, 2022 के रोजगार समाचार में जारी किया गया है। जो भी उम्मीदवार इस भर्ती के लिए इच्छुक हैं। नौसेना की पश्चिमी कमान की ओर से जारी की गई ग्रुप सी के पदों पर भर्ती के माध्यम से चयनित उम्मीदवारों को फायरमैन, फार्मासिस्ट और पेस्ट कंट्रोल वर्कर के रिक्त पदों पर नियुक्ति दी जाएगी। इस भर्ती में रिक्त पदों की कुल संख्या 127 है। योग्य और इच्छुक उम्मीदवार इन पदों पर विज्ञापन जारी होने के 60 दिनों के भीतर अपना आवेदन कर सकते हैं। आवेदन की आखिरी तारीख 26 अप्रैल, 2022 तक है।

फायरमैन के लिए रिक्त पदों की संख्या- 120।
फार्मासिस्ट के लिए रिक्त पदों की संख्या- 1।
पेस्ट कंट्रोल वर्कर के लिए रिक्त पदों की संख्या- 6।

चयन प्रक्रियाइस भर्ती के लिए उम्मीदवारों का चयन शारीरिक परीक्षण, अंतरिम नियुक्ति पत्र और दस्तावेजों के सत्यापन के माध्यम से किया जाएगा। गुप सी के रिक्त पदों पर भर्ती के लिए आवेदकों के पास में न्यूनतम दसवीं पास की योग्यता होनी चाहिए। अन्य जरूरी योग्यताओं के लिए उम्मीदवार वेबसाइट पर जाकर नोटिफिकेशन को चेक कर सकते हैं। इस भर्ती के लिए योग्य और इच्छुक उम्मीदवारों को अपना आवेदन ऑफलाइन माध्यम से करना होगा। उम्मीदवार आवेदन पत्र को वेबसाइट पर जाकर डाउनलोड कर सकते है।

रूस-यूक्रेन की जंग के बीच पीएम ने बुलाई बैठक

रूस-यूक्रेन की जंग के बीच पीएम ने बुलाई बैठक    

अखिलेश पांडेय    

कीव/ मास्को/नई दिल्ली। यूक्रेन और रूस की जंग के बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने हाई लेवल बैठक बुलाई। जिसमें फैसला लिया गया कि युद्ध के बीच फंसे भारतीयों के देश वापसी कराने के लिए देश के 4 केंद्रीय मंत्री यूक्रेन के पड़ोसी देश जाएंगे। इन चार मंत्रियों में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, हरदीप सिंह पुरी, जनरल वीके सिंह और किरेन रिजिजू के नाम शामिल हैं। इसके साथ ही बैठक में यूक्रेन में फंसे भारतीयों की स्वदेश वापसी की प्रक्रिया तेज करने के लिए यूक्रेन के पड़ोसी देशों के साथ सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की गई। बता दें अब तक भारत ने यूक्रेन से अपने करीब 2,000 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला है। और उनमें से 1,000 लोगों को हंगरी और रोमानिया के रास्ते घर लाया जा चुका है। 

भारत के विदेश मंत्रालय ने यूक्रेन में जंग के बीच फँसे भारतीयों को वापस लाने में मदद के लिए एक आधिकारिक ट्विटर हैंडल ‘ऑपगंगा हेल्पलाइन’ लॉन्च किया। यूक्रेन में फंसे भारतीयों की वापसी के अभियान को ‘ऑपरेशन गंगा’ नाम दिया गया है। ‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत पोलैंड, रोमानिया, हंगरी और स्लोवाकिया में भारत ने अपने कंट्रोल रूम स्थापित किए हैं जिससे यूक्रेन की सीमा से लगने वाले इन देशों के जरिए भारतीयों को निकाला जा सके।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में हुए यूक्रेन पर रूस के हमले सं संबंधित मतदान में भारत ने भाग नहीं लिया, हालांकि भारत ने बेलारूस सीमा पर वार्ता करने के रुस और यूक्रेन के फैसले का स्वागत किया है। बता दें दो दिन पहले यूक्रेन के खिलाफ रूसी हमले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के एक प्रस्ताव को रूस ने वीटो के जरिए बाधित कर दिया था। इस प्रस्ताव के लिए हुए मतदान में भी भारत, चीन और संयुक्त अरब अमीरात शामिल नहीं हुए थे।

'अंतरराष्ट्रीय' यात्री उड़ानों के निलंबन को बढ़ाया

'अंतरराष्ट्रीय' यात्री उड़ानों के निलंबन को बढ़ाया    

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। विमानन नियामक डीजीसीए ने सोमवार को कहा कि देश में अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानों के निलंबन को ‘‘अगले आदेश तक” बढ़ा दिया गया है।  इससे पहले 19 जनवरी को निलंबन 28 फरवरी तक बढ़ा दिया गया। कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के बाद 23 मार्च, 2020 से भारत में अनुसूचित अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें निलंबित हैं। इसके बाद गठित एयर बबल व्यवस्था के तहत जुलाई 2020 से भारत और लगभग 45 देशों के बीच विशेष यात्री उड़ानें संचालित हो रही हैं।

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने सोमवार को एक परिपत्र में कहा, ‘‘सक्षम प्राधिकारी ने भारत से अनुसूचित अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक यात्री सेवाओं के निलंबन को अगले आदेश तक बढ़ाने का फैसला किया है।” परिपत्र में कहा गया कि यह प्रतिबंध अंतरराष्ट्रीय मालवाहक उड़ानों तथा डीजीसीए द्वारा विशेष रूप से मंजूरी प्राप्त उड़ानों पर लागू नहीं होगा।
इससे पहले सरकारी सूत्रों से खबर आई थी कि नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें  15 मार्च से फिर से शुरू हो सकती हैं और इसके लिए भारतीय हवाई अड्डों पर प्रभावी मानक संचालन प्रक्रियाओं का पालन किया जाएगा। लेकिन नागरिक उड्डयन महानिदेशालय की ओर से अभी तक कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गई थी।

रूस-यूक्रेन संकट: सोने-चांदी की कीमतों में तेजी दर्ज

रूस-यूक्रेन संकट: सोने-चांदी की कीमतों में तेजी दर्ज    

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन सोमवार को भारतीय बाजारों में सोने और चांदी की कीमतों में शानदार तेजी आई है। रूस और यूक्रेन संकट में जारी जंग की खबरों से पीली धातु के भाव में उछाल आया है। सोमवार को मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर अप्रैल वायदा सोने का दाम 1.5 फीसदी प्रति 10 ग्राम चढ़ गया। जबकि मार्च वायदा चांदी की कीमत 1.6 फीसदी प्रति किलोग्राम बढ़ गई। पश्चिमी देशों द्वारा यूक्रेन पर हमला करने के लिए रूस पर कड़े प्रतिबंध लगाने के बाद वैश्विक बाजारों में सोमवार को सोने की कीमतों में तेजी आई है। इस महीने सोने की कीमतें 1 फीसदी से ज्यादा बढ़कर 1,909.89 डॉलर प्रति औंस हो गईं, जो इस महीने 6 फीसदी से अधिक हो गई। इस बीच, यूक्रेन के अधिकारी बेलारूस की सीमा पर रूसी समकक्षों से मिलेंगे क्योंकि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपने देश के न्यूक्लियर फोर्स को हाई अलर्ट पर रखा है।

सोमवार को एमसीएक्स पर अप्रैल वायदा चांदी का भाव 800 रुपये बढ़कर 50,990 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। वहीं मार्च वायदा चांदी की कीमत 1,027 रुपये बढ़कर 65,050 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई। आपको बता दें कि सोने का उपयोग अक्सर मुद्रास्फीति के खिलाफ बचाव के रूप में और वित्तीय व राजनीतिक अनिश्चितता के समय में सेफ हेवन के रूप में किया जाता है। अमेरिका और यूरोप ने शनिवार को बड़े रूसी बैंकों को मुख्य वैश्विक भुगतान प्रणाली स्विफ्ट से हटा दिया, जो अब तक के सबसे मजबूत आर्थिक प्रतिबंधों में से एक है।

इस बीच, रूसी केंद्रीय बैंक  ने घोषणा की है कि वह घरेलू कीमती धातु बाजार में फिर से सोना खरीदना शुरू करेगा। यह कदम मॉनिटरी ऑथोरिटी और देश के कई कमर्शियल बैंकों को मंजूरी दिए जाने के बाद आया है। केंद्रीय बैंक की खरीदारी पिछले एक साल में बुलियन की मांग का एक प्रमुख स्रोत रही है। इस समय सोने को अंतर्राष्ट्रीय और साथ ही घेरलू डेवलपमेंट का सपोर्ट मिला है। जियोपॉलिटिकल टेंशन के कारण सोने की कीमतें एक साल से अधिक के उच्च स्तर पर पहुंच गई हैं। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की 10वीं किस्त आज से सब्सक्रिप्शन के लिए खुल गई है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में 4 मार्च तक निवेश कर सकेंगे। भारतीय रिजर्व बैंक ने इसकी कीमत 5,109 रुपये प्रति ग्राम तय की है। भारत सरकार ने भारतीय रिजर्व बैंक के परामर्श से ऑनलाइन आवेदन करने वाले निवेशकों को 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट देने का फैसला लिया है, अगर आवेदन के लिए भुगतान डिजिटल मोड के माध्यम से किया जाता है। आरबीआई ने कहा, ऐसे निवेशकों के लिए गोल्ड बॉन्ड का इश्यू प्राइस 5,059 रुपये प्रति ग्राम होगा।

अंतर्राष्ट्रीय यात्रा एडवायजरी में बदलाव किया: मंत्रालय

अंतर्राष्ट्रीय यात्रा एडवायजरी में बदलाव किया: मंत्रालय  

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। स्वास्थ्य मंत्रालय ने युद्धग्रस्‍त यूक्रेन से निकाले जा रहे भारतीयों के लिए अंतरराष्ट्रीय यात्रा दिशा-निर्देशों में संशोधन किया है। इसके मद्देनजर स्वास्थ्य मंत्रालय ने अंतर्राष्ट्रीय यात्रा एडवायजरी में बदलाव किया है। जो यूक्रेन से निकाले जा रहे भारतीयों के लिए विभिन्न छूट प्रदान करता है। इसमें उन्‍हें कई कोविड-19 संबंधित छूट प्रदान की गई हैं। भारतीय नागर‍िकों को अनिवार्य प्री-बोर्डिंग नेगेटिव आरटी-पीसीआर टेस्ट और टीकाकरण प्रमाणपत्र में छूट दी गई है। इसके अलावा उन्हें एयर-सुविधा पोर्टल पर प्रस्थान से पहले दस्तावेज अपलोड करने की भी आवश्यकता नहीं है।यदि कोई यात्री आगमन से पहले आरटी-पीसीआर टेस्‍ट पेश करने में सक्षम नहीं है या जिन्होंने अपना कोविड -19 टीकाकरण पूरा नहीं किया है, तो उन्हें भारत आने के बाद 14 दिनों के लिए अपने कोव‍िड-19 के नमूने जमा करने की अनुमति दी गई है। 28 फरवरी 2022 तक यूक्रेन से 1156 भारतीय भारत आ चुके हैं, जिनमें से किसी भी यात्री को आइसोलेशन में नहीं रखा गया है।

भारत ने पहले ही पोलैंड, रोमानिया, हंगरी और स्लोवाकिया में 24 घंटे के नियंत्रण कक्ष स्थापित किए हैं, ताकि इन देशों से लगने वाली यूक्रेन की सीमा से जरिए भारतीयों को निकाला जा सके। इसको लेकर नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि लगभग 13,000 भारतीय अभी भी यूक्रेन में फंसे हुए हैं और सरकार उन्हें जल्द से जल्द वापस लाने का प्रयास कर रही है।


राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा ने निशंक को दिल्ली तलब किया

राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा ने निशंक को दिल्ली तलब किया  

पंकज कपूर    

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक को दिल्ली तलब किया है। जिसके बाद भाजपा में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। विधानसभा चुनावों के नतीजों से पहले निशंक को दिल्ली तलब किया जाना खुद में कुछ बड़े मायने रखता है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बीते कुछ दिनों में भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्रियों से मुलाकात की थी। वही बीते रविवार को भाजपा हाईकमान ने निशंक को दिल्ली बुलाया है। उनके इस बुलावे को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है। वही चुनावी प्रक्रिया के बाद अटकलों का बाजार भी गर्म हो गया है। कांग्रेस और भाजपा नेताओं ने अपनी अपनी जीत का दावा किया है। वही ताजा राजनीतिक समीकरणों के मुताबिक निशंक का दिल्ली जाना खुद में बड़े मायने रखता है। 

सीएम धामी ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्रियों से मुलाकात की और उनसे बंद दरवाजों के पीछे किस बात को लेकर चर्चा हुई,यह भी बड़ा सवाल बना हुआ है।इन मुलाकातों की अटकलों से देखा जा रहा है। वही अचानक भाजपा हाईकमान ने निशंक को दिल्ली आने का निमंत्रण दिया है। निशंक निमंत्रण के तुरंत बाद दिल्ली के लिए रवाना हो गए। अटकलें लगाई जा रही है कि नड्डा उत्तराखंड विधानसभा चुनावों का रिजल्ट निशंक से ले सकते हैं। वही उत्तराखंड के राजनीतिक समीकरण को लेकर भी चर्चा हो सकती है। हालांकि निशंक ने इस मामले में कुछ भी कहने से परहेज़ किया है। *निशंक को मिल सकती है अहम जिम्मेदारी* राजनीतिक चर्चाओं की मानें तो भाजपा हाईकमान नड्डा निशंक को उत्तराखंड में अहम जिम्मेदारी सौंप सकते हैं। निशंक राजनीतिक जोड़-तोड़ के माहिर खिलाड़ी हैं। केंद्रीय जिम्मेदारी छोड़ने वाले निशंक पिछले लंबे समय से स्वास्थ्य लाभ ले रहे थे। वही विधानसभा चुनावों में वह कुछ सतर्क रहें थे। वही इस बात की चर्चा भी जोरों पर है कि भाजपा निशंक को कोई बड़ी जिम्मेदारी सौप सकतीं हैं। 


नेता दलाई लामा ने 'यूक्रेन संकट' पर दुख व्यक्त किया

नेता दलाई लामा ने 'यूक्रेन संकट' पर दुख व्यक्त किया   

श्रीराम मौर्य      

शिमला। तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने सोमवार को यूक्रेन संकट पर दुख व्यक्त किया और कहा कि बातचीत के जरिए ही समस्याओं एवं असहमति का सबसे सही समाधान निकाला जा सकता है। शांति के लिए नोबेल पुरस्कार पाने वाले लामा ने यूक्रेन पर रूस के हमले के बारे में कहा कि युद्ध अब एक पुराना तरीका हो गया है और अहिंसा ही एकमात्र रास्ता है।

लामा ने एक बयान में कहा कि मैं, यूक्रेन में संघर्ष को लेकर काफी दुखी हूं। हमारी दुनिया इतनी एक-दूसरे पर निर्भर हो गई है कि दो देशों के बीच हिंसक संघर्ष का यकीनन अन्य पर असर होगा। हालांकि युद्ध अब एक पुराना तरीका हो गया है और अहिंसा ही एकमात्र रास्ता है। हमें अन्य मनुष्य को भाई-बहन मानते हुए, पूरी मानवता के एक होने का विचार विकसित करना चाहिए।

इस तरह हम अधिक शांतिपूर्ण विश्व का निर्माण कर पाएंगे।दलाई लामा ने कहा कि  समस्याओं और असहमति को हल करने का सबसे वाजिब तरीका बातचीत ही है। असल शांति आपसी समझ और एक-दूसरे के कुशलक्षेम के सम्मान से ही आती है।” यूक्रेन में जल्द शांति बहाली की कामना करते हुए उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद नहीं खोनी चाहिए। 20वीं सदी युद्ध और रक्तपात की सदी थी। 21वीं सदी संवाद की सदी होनी चाहिए।

249 भारतीयों को लेकर दिल्ली पहुंचीं पांचवीं उड़ान

249 भारतीयों को लेकर दिल्ली पहुंचीं पांचवीं उड़ान    

अखिलेश पांडेय       

नई दिल्ली/कीव। एयर इंडिया की पांचवी निकासी उड़ान यूक्रेन में फंसे 249 भारतीय नागरिकों को रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट से लेकर सोमवार को दिल्ली पहुंची।रूस के यूक्रेन पर हमला करने के बाद युद्धग्रस्त देश में फंसे अपने नागरिकों को भारत शनिवार से ही रोमानिया और हंगरी के रास्ते देश वापस ला रहा है। रोमानिया और हंगरी यूक्रेन के पड़ोसी देश हैं।

‘टाटा ग्रुप’ के स्वामित्व वाली एयर इंडिया अपने पांच विमानों से अभी तक 1,156 भारतीयों को स्वदेश ला चुकी है। अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को एक और विमान दिल्ली पहुंच सकता है।

मणिपुर: 38 सीटों के लिए 27.34 प्रतिशत मतदान

मणिपुर: 38 सीटों के लिए 27.34 प्रतिशत मतदान    

इकबाल अंसारी       

इम्फाल। मणिपुर में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 38 सीटों के लिए सोमवार सुबह 11 बजे तक 27.34 प्रतिशत मतदान हुआ है। वहीं 9 बजे तक 12.09 लाख मतदाताओं में से 9.9 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। पुलिस ने बताया कि चुराचांदपुर जिले के सुदूर इलाके में दो राजनीतिक दलों के बीच झड़प में एक व्यक्ति घायल हो गया। बता दें मणिपुर विधानसभा के लिए सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ था। कोविड-19 संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करते हुए, कड़ी सुरक्षा के बीच पांच जिलों की 38 सीटों के लिए मतदान हो रहा है। इस चुनाव में पांच महिलाओं सहत कुल 173 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। मतदान शुरू होने के करीब आधे घंटे के भीतर राज्यपाल ला गणेशन और मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में वोट डाला।

इम्फाल वेस्ट जिले के सगोलबंद निर्वाचन क्षेत्र में टीजी उच्च माध्यमिक विद्यालय में बने मतदान केन्द्र में वोट डालने के बाद राज्यपाल गणेशन ने मणिपुर के सभी पात्र मतदाताओं से अपने मताधिकारों का इस्तेमाल करने की अपील की। मुख्यमंत्री सिंह और उनकी पत्नी ने इम्फाल ईस्ट जिले के हिंगांग निर्वाचन क्षेत्र में एक ‘मॉडल’ मतदान केन्द्र में वोट डाला। मुख्यमंत्री ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। प्रमुख उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष वाई खेमचंद सिंह, उपमुख्यमंत्री एवं एनपीपी उम्मीदवार युमनाम जॉयकुमार और मणिपुर कांग्रेस अध्यक्ष एन लोकेश सिंह शामिल हैं। कुल 38 सीटों में से, 10 निर्वाचन क्षेत्र इंफाल ईस्ट में, 13 इंफाल वेस्ट में, बिष्णुपुर और चुराचांदपुर में छह-छह और कांगपोकपी जिले में तीन सीटें हैं। नौ सीटें अनुसूचित जनजाति और एक अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजेश अग्रवाल ने कहा था कि कुल 173 उम्मीदवारों में से 39 का आपराधिक इतिहास रहा है।

भारतीय छात्रों को रेलवे स्टेशन पहुंचने की सलाह दीं

भारतीय छात्रों को रेलवे स्टेशन पहुंचने की सलाह दीं   

अखिलेश पांडेय        

कीव/मास्को। यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने सोमवार को कीव में फंसे सभी भारतीय छात्रों को यूक्रेन की राजधानी में रेलवे स्टेशन पहुंचने की सलाह दी। ताकि युद्धग्रस्त देश के पश्चिमी हिस्सों तक आगे की यात्रा कर सके। दूतावास ने कहा कि कीव में सप्ताहांत कर्फ्यू हटा लिया गया है और वे शहर से बाहर निकलने के लिए रेलवे स्टेशन जा सकते हैं। दूतावास ने ट्वीट किया कि कीव में सप्ताहांत कर्फ्यू हटा लिया गया है। सभी छात्रों को सलाह दी जाती है कि वे पश्चिमी भागों तक जाने के लिए रेलवे स्टेशन जाएं। यूक्रेन रेलवे लोगों की निकासी के लिए विशेष ट्रेनें चला रहा है। इस बीच, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट किया कि भारत के लोगों को निकालने के मिशन ‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत छठी उड़ान बुडापेस्ट से दिल्ली के लिए रवाना हुई जिसमें 240 भारतीय नागरिक शामिल हैं।

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने रविवार को कहा कि भारत के लिए मुख्य चिंता कीव सहित उन क्षेत्रों में फंसे अपने नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है, जहां भीषण लड़ाई चल रही है। उन्होंने कहा कि कीव में करीब दो हज़ार भारतीय हैं। श्रृंगला ने बताया कि भारत ने यूक्रेन से अपने करीब 2,000 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला है और उनमें से 1,000 लोगों को हंगरी और रोमानिया के रास्ते चार्टर्ड विमानों से घर लाया जा चुका है।

सामाजिक सुरक्षा मुहैया, कानून बनाने की मांग की

सामाजिक सुरक्षा मुहैया, कानून बनाने की मांग की     

नरेश राघानी           

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार से लोगों को सामाजिक सुरक्षा मुहैया कराने के लिए कानून बनाने की मांग की है। गहलोत ने कहा कि, देशवासियों के लिए सामाजिक सुरक्षा का अधिकार होना चाहिए। केंद्र को लोगों, चाहे वे बेसहारा हो, अकेली महिलाएं हों, बुजुर्ग हों या मजदूर हों, को सामाजिक सुरक्षा की गारंटी देने के लिए एक कानून लाना चाहिए।अशोक गहलोत ने कहा कि चाहे शिक्षा का अधिकार हो, सूचना का अधिकार हो, मनरेगा हो या खाद्य सुरक्षा अधिनियम हो। तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली संप्रग सरकार ने लोगों को अधिकार देने के युग की शुरुआत की थी और देश की जनता को सामाजिक सुरक्षा का अधिकार दिया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा, “मशीनों का अपना महत्व है लेकिन मानव श्रम बहुत महत्वपूर्ण है और यह सरकारों का कर्तव्य है कि वे उनकी देखभाल करें। जब वे बुजुर्ग हो जाते हैं और काम करने में सक्षम नहीं रहते तो उन्हें समस्या होती है। यहीं पर उन्हें सुरक्षा मुहैया कराने में सरकार की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है।

उन्होंने कहा कि लोगों को सामाजिक सुरक्षा का अधिकार मिलना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान की सरकार ने मानवीय दृष्टिकोण के साथ कई पहल की हैं जिनमें राज्य कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना लागू करने की बजट घोषणा, सभी सरकारी अस्पतालों में आईपीडी और ओपीडी में मुफ्त इलाज, मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा के तहत बीमा राशि को 5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये करना शामिल है।

मुख्यमंत्री ने बजट 2022-23 में इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना की घोषणा का जिक्र करते हुए कहा कि इसके तहत राज्य के ग्रामीण इलाकों की तरह शहरी क्षेत्रों में जरूरतमंद परिवारों को भी 100 दिन का रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि, चाहे स्वास्थ्य हो, रोजगार या कृषि क्षेत्र। राज्य सरकार पिछले तीन साल से नियमित कदम उठा रही है। कोरोना महामारी के दौरान, हमने तुंरत बेसहारा परिवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए पहल की। इसके तहत लॉकडाउन के दौरान 33 लाख असहाय परिवारों को 5500 रुपये किस्तों में दिए गए जिस पर करीब 1800 करोड़ रुपये व्यय हुए।

दिल्ली हाईकोर्ट के 4 नए जजों ने पद की शपथ ली

दिल्ली हाईकोर्ट के 4 नए जजों ने पद की शपथ ली     

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय के चार नए न्यायाधीशों ने सोमवार को पद की शपथ ली। अब उच्च न्यायालय में न्यायाधीशों की कुल संख्या 34 हो गई है। इस अदालत में अधिकतम 60 न्यायाधीशों की नियुक्त की जा सकती है। मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल ने न्यायमूर्ति नीना बंसल कृष्णा, न्यायमूर्ति दिनेश कुमार शर्मा, न्यायमूर्ति अनूप कुमार मेंदीरत्ता और न्यायमूर्ति सुधीर कुमार जैन को पद की शपथ दिलाई। इन्हें 25 फरवरी को उच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त करने की घोषणा की गई थी।

शपथ ग्रहण समारोह मुख्य न्यायाधीश की अदालत में हुआ। इस समारोह में अन्य उच्च न्यायालय के न्यायाधीश, शपथ ग्रहण करने वाले न्यायाधीश और वकीलों के परिवार उपस्थित हुए। न्यायमूर्ति कृष्णा यहां साकेत जिला न्यायालय में प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश के रूप में कार्यरत थीं। वहीं, न्यायमूर्ति शर्मा पटियाला हाउस अदालत के प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश थे और इससे पहले वह दिल्ली उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल भी रह चुके हैं।

न्यायमूर्ति मेंदीरत्ता कानून मंत्रालय में केन्द्रीय विधि सचिव थे। ऐसा पहली बार है, जब एक केन्द्रीय विधि सचिव को उच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त किया गया है। न्यायमूर्ति जैन राउज एवेन्यू कोर्ट के प्रधान जिला सत्र न्यायाधीश सह विशेष न्यायाधीश के पद पर तैनात थे। उच्चतम न्यायालय के कॉलेजियम ने एक फरवरी, 2022 को हुई बैठक में दिल्ली उच्च न्यायालय में छह न्यायिक अधिकारियों को न्यायाधीशों के रूप में पदोन्नत करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। केन्द्र ने छह में से उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के रूप में पदोन्नत होने वाले चार न्यायाधीशों के नामों को मंजूरी दे दी है।

हवा में मार करने वाली मिसाइलें देने का फैसला किया

हवा में मार करने वाली मिसाइलें देने का फैसला किया   

सुनील श्रीवास्तव         

बर्लिन। जर्मनी ने दुनिया को स्तब्ध करते हुए, यूक्रेन को टैंक रोधी हथियार और जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइलें देने का फैसला किया है। इसके साथ ही उसने युद्धग्रस्त क्षेत्र में हथियार का निर्यात नहीं करने की द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से चली आ रही अपनी विदेश नीति में ऐतिहासिक बदलाव का संकेत दिया है। जर्मनी के चांसलर ओलाफ शॉल्त्स ने रविवार को संसद के विशेष सत्र में दिए भाषण में कहा कि यह नयी वास्तविकता है। उन्होंने कहा कि यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के बाद जर्मनी द्वारा नाटकीय रूप से पहले की तुलना में अलग प्रतिक्रिया की जरूरत है। बुंडस्टाग (जर्मन संसद) में शॉल्त्स ने कहा कि राष्ट्रपति (व्लादिमीर) पुतिन द्वारा गत बृहस्पतिवार को यूक्रेन पर किए गए हमले ने नयी वास्तविकता उत्पन्न कर दी है और यह वास्तविकता स्पष्ट उत्तर की मांग करती है, हमने एक उत्तर दिया है।

उन्होंने कहा कि जर्मनी यूक्रेन को टैंक रोधी हथियार और जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइलें भेज रहा है। जर्मन चांसलर ने कहा कि देश(जर्मनी) अपने सैन्य बलों के लिए 100 अरब यूरो का विशेष कोष बनाने को लेकर प्रतिबद्ध है और वह रक्षा पर खर्च बढ़ाकर जीडीपी का दो प्रतिशत करेगा।

चतुर्दशी को मनाया जाएगा 'महाशिवरात्रि' पर्व, जानिए

चतुर्दशी को मनाया जाएगा 'महाशिवरात्रि' पर्व, जानिए   

सरस्वती उपाध्याय           
'महाशिवरात्रि' भारतीयों का एक प्रमुख त्यौहार है। यह भगवान शिव का प्रमुख पर्व है। माघ कृष्ण-पक्ष त्रयोदशी को महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। लेकिन, इस बार कृष्ण-पक्ष की तिथि चतुर्दशी को 'महाशिवरात्रि' पर्व मनाया जाएगा। यानी कि 1 मार्च को 'महाशिवरात्रि' पर्व मनाया जाएगा।
माना जाता है कि सृष्टि का प्रारम्भ इसी दिन से हुआ। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन सृष्टि का आरम्भ अग्निलिंग (जो महादेव का विशालकाय स्वरूप है) के उदय से हुआ। इसी दिन भगवान शिव का विवाह देवी पार्वती के साथ हुआ था। साल में होने वाली 12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। भारत सहित पूरी दुनिया में महाशिवरात्रि का पावन पर्व बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है।

कश्मीर शैव मत में इस त्यौहार को हर-रात्रि और बोलचाल में 'हेराथ' या 'हेरथ' भी कहा जाता हैं।

महाशिवरात्रि से सम्बन्धित कई पौराणिक कथाएँ है।

समुद्र मंथन: समुद्र मंथन अमर अमृत का उत्पादन करने के लिए निश्चित था, लेकिन इसके साथ ही हलाहल नामक विष भी पैदा हुआ था। हलाहल विष में ब्रह्माण्ड को नष्ट करने की क्षमता थी और इसलिए केवल भगवान शिव इसे नष्ट कर सकते थे। भगवान शिव ने हलाहल नामक विष को अपने कण्ठ में रख लिया था। जहर इतना शक्तिशाली था कि भगवान शिव बहुत दर्द से पीड़ित हो उठे थे और उनका गला बहुत नीला हो गया था। इस कारण से भगवान शिव 'नीलकंठ' के नाम से प्रसिद्ध हैं। उपचार के लिए, चिकित्सकों ने देवताओं को भगवान शिव को रात भर जागते रहने की सलाह दी। इस प्रकार, भगवान भगवान शिव के चिन्तन में एक सतर्कता रखी। शिव का आनन्द लेने और जागने के लिए, देवताओं ने अलग-अलग नृत्य और संगीत बजाने। जैसे सुबह हुई, उनकी भक्ति से प्रसन्न भगवान शिव ने उन सभी को आशीर्वाद दिया। शिवरात्रि इस घटना का उत्सव है, जिससे शिव ने दुनिया को बचाया। तब से इस दिन, भक्त उपवास करते है।

शिकारी कथा: एक बार पार्वती ने भगवान शिवशंकर से पूछा, 'ऐसा कौन-सा श्रेष्ठ तथा सरल व्रत-पूजन है, जिससे मृत्युलोक के प्राणी आपकी कृपा सहज ही प्राप्त कर लेते हैं?' उत्तर में शिवजी ने पार्वती को 'शिवरात्रि' के व्रत का विधान बताकर यह कथा सुनाई- 'एक बार चित्रभानु नामक एक शिकारी था। पशुओं की हत्या करके वह अपने कुटुम्ब को पालता था। वह एक साहूकार का ऋणी था, लेकिन उसका ऋण समय पर न चुका सका। क्रोधित साहूकार ने शिकारी को शिवमठ में बंदी बना लिया। संयोग से उस दिन शिवरात्रि थी।'

शिकारी ध्यानमग्न होकर शिव-संबंधी धार्मिक बातें सुनता रहा। चतुर्दशी को उसने शिवरात्रि व्रत की कथा भी सुनी। संध्या होते ही साहूकार ने उसे अपने पास बुलाया और ऋण चुकाने के विषय में बात की। शिकारी अगले दिन सारा ऋण लौटा देने का वचन देकर बंधन से छूट गया। अपनी दिनचर्या की भांति वह जंगल में शिकार के लिए निकला। लेकिन दिनभर बंदी गृह में रहने के कारण भूख-प्यास से व्याकुल था। शिकार करने के लिए वह एक तालाब के किनारे बेल-वृक्ष पर पड़ाव बनाने लगा। बेल वृक्ष के नीचे शिवलिंग था जो विल्वपत्रों से ढका हुआ था। शिकारी को उसका पता न चला।

पड़ाव बनाते समय उसने जो टहनियाँ तोड़ीं, वे संयोग से शिवलिंग पर गिरीं। इस प्रकार दिनभर भूखे-प्यासे शिकारी का व्रत भी हो गया और शिवलिंग पर बेलपत्र भी चढ़ गए। एक पहर रात्रि बीत जाने पर एक गर्भिणी मृगी तालाब पर पानी पीने पहुँची। शिकारी ने धनुष पर तीर चढ़ाकर ज्यों ही प्रत्यंचा खींची, मृगी बोली, 'मैं गर्भिणी हूँ। शीघ्र ही प्रसव करूँगी। तुम एक साथ दो जीवों की हत्या करोगे, जो ठीक नहीं है। मैं बच्चे को जन्म देकर शीघ्र ही तुम्हारे समक्ष प्रस्तुत हो जाऊँगी, तब मार लेना।' शिकारी ने प्रत्यंचा ढीली कर दी और मृगी जंगली झाड़ियों में लुप्त हो गई।

कुछ ही देर बाद एक और मृगी उधर से निकली। शिकारी की प्रसन्नता का ठिकाना न रहा। समीप आने पर उसने धनुष पर बाण चढ़ाया। तब उसे देख मृगी ने विनम्रतापूर्वक निवेदन किया, 'हे पारधी! मैं थोड़ी देर पहले ऋतु से निवृत्त हुई हूं। कामातुर विरहिणी हूँ। अपने प्रिय की खोज में भटक रही हूँ। मैं अपने पति से मिलकर शीघ्र ही तुम्हारे पास आ जाऊँगी।' शिकारी ने उसे भी जाने दिया। दो बार शिकार को खोकर उसका माथा ठनका। वह चिन्ता में पड़ गया। रात्रि का आखिरी पहर बीत रहा था। तभी एक अन्य मृगी अपने बच्चों के साथ उधर से निकली। शिकारी के लिए यह स्वर्णिम अवसर था। उसने धनुष पर तीर चढ़ाने में देर नहीं लगाई। वह तीर छोड़ने ही वाला था कि मृगी बोली, 'हे पारधी!' मैं इन बच्चों को इनके पिता के हवाले करके लौट आऊँगी। इस समय मुझे शिकारी हँसा और बोला, सामने आए शिकार को छोड़ दूँ, मैं ऐसा मूर्ख नहीं। इससे पहले मैं दो बार अपना शिकार खो चुका हूँ। मेरे बच्चे भूख-प्यास से तड़प रहे होंगे। उत्तर में मृगी ने फिर कहा, जैसे तुम्हें अपने बच्चों की ममता सता रही है, ठीक वैसे ही मुझे भी। इसलिए सिर्फ बच्चों के नाम पर मैं थोड़ी देर के लिए जीवनदान माँग रही हूँ। हे पारधी! मेरा विश्वास कर, मैं इन्हें इनके पिता के पास छोड़कर तुरन्त लौटने की प्रतिज्ञा करती हूँ।

मृगी का दीन स्वर सुनकर शिकारी को उस पर दया आ गई। उसने उस मृगी को भी जाने दिया। शिकार के अभाव में बेल-वृक्षपर बैठा शिकारी बेलपत्र तोड़-तोड़कर नीचे फेंकता जा रहा था। पौ फटने को हुई तो एक हृष्ट-पुष्ट मृग उसी रास्ते पर आया। शिकारी ने सोच लिया कि इसका शिकार वह अवश्य करेगा। शिकारी की तनी प्रत्यंचा देखकर मृगविनीत स्वर में बोला, हे पारधी भाई! यदि तुमने मुझसे पूर्व आने वाली तीन मृगियों तथा छोटे-छोटे बच्चों को मार डाला है, तो मुझे भी मारने में विलम्ब न करो, ताकि मुझे उनके वियोग में एक क्षण भी दुःख न सहना पड़े। मैं उन मृगियों का पति हूँ। यदि तुमने उन्हें जीवनदान दिया है तो मुझे भी कुछ क्षण का जीवन देने की कृपा करो। मैं उनसे मिलकर तुम्हारे समक्ष उपस्थित हो जाऊँगा।

मृग की बात सुनते ही शिकारी के सामने पूरी रात का घटनाचक्र घूम गया, उसने सारी कथा मृग को सुना दी। तब मृग ने कहा, 'मेरी तीनों पत्नियाँ जिस प्रकार प्रतिज्ञाबद्ध होकर गई हैं, मेरी मृत्यु से अपने धर्म का पालन नहीं कर पाएँगी। अतः जैसे तुमने उन्हें विश्वासपात्र मानकर छोड़ा है, वैसे ही मुझे भी जाने दो। मैं उन सबके साथ तुम्हारे सामने शीघ्र ही उपस्थित होता हूँ।' उपवास, रात्रि-जागरण तथा शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ने से शिकारी का हिंसक हृदय निर्मल हो गया था। उसमें भगवद् शक्ति का वास हो गया था। धनुष तथा बाण उसके हाथ से सहज ही छूट गया। भगवान शिव की अनुकम्पा से उसका हिंसक हृदय कारुणिक भावों से भर गया। वह अपने अतीत के कर्मों को याद करके पश्चाताप की ज्वाला में जलने लगा।

थोड़ी ही देर बाद वह मृग सपरिवार शिकारी के समक्ष उपस्थित हो गया, ताकि वह उनका शिकार कर सके, किन्तु जंगली पशुओं की ऐसी सत्यता, सात्विकता एवम् सामूहिक प्रेमभावना देखकर शिकारी को बड़ी ग्लानि हुई। उसके नेत्रों से आँसुओं की झड़ी लग गई। उस मृग परिवार को न मारकर शिकारी ने अपने कठोर हृदय को जीव हिंसा से हटा सदा के लिए कोमल एवम् दयालु बना लिया। देवलोक से समस्त देव समाज भी इस घटना को देख रहे थे। घटना की परिणति होते ही देवी-देवताओं ने पुष्प-वर्षा की। तब शिकारी तथा मृग परिवार मोक्ष को प्राप्त हुए।

अनुष्ठान: गेंदे के फूलों की अनेक प्रकार की मालायें, जो शिव को चढ़ाई जाती हैं। इस अवसर पर भगवान शिव का अभिषेक अनेकों प्रकार से किया जाता है। जलाभिषेक : जल से और दुग्‍धाभिषेक : दूध से। बहुत जल्दी सुबह-सुबह भगवान शिव के मन्दिरों पर भक्तों, जवान और बूढ़ों का ताँता लग जाता है वे सभी पारम्परिक शिवलिंग पूजा करने के लिए जाते हैं और भगवान से प्रार्थना करते हैं। भक्त सूर्योदय के समय पवित्र स्थानों पर स्नान करते हैं जैसे गंगा, या (खजुराहो के शिव सागर में) या किसी अन्य पवित्र जल स्रोत में। यह शुद्धि के अनुष्ठान हैं, जो सभी हिन्दू त्योहारों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। पवित्र स्नान के बाद स्वच्छ वस्त्र पहने जाते हैं, भक्त शिवलिंग स्नान करने के लिए मन्दिर में पानी का बर्तन ले जाते हैं महिलाओं और पुरुषों दोनों सूर्य, विष्णु और शिव की प्रार्थना करते हैं मन्दिरों में घण्टी और "शंकर जी की जय" ध्वनि गूँजती है। भक्त शिवलिंग की तीन या सात बार परिक्रमा करते हैं और फिर शिवलिंग पर पानी या दूध भी डालते हैं। हालाकि, इन सभी अनुष्ठान का वर्णन हमारे पवित्र शास्त्रों में कहीं पर भी नही है, जिससे यह शास्त्रानुकूल साधना नही है।शिव पुराण के अनुसार, महाशिवरात्रि पूजा में छह वस्तुओं को अवश्य शामिल करना चाहिए।

शिव लिंग का पानी, दूध और शहद के साथ अभिषेक। बेर या बेल के पत्ते जो आत्मा की शुद्धि का प्रतिनिधित्व करते हैं।
सिंदूर का पेस्ट स्नान के बाद शिव लिंग को लगाया जाता है। यह पुण्य का प्रतिनिधित्व करता है।
फल, जो दीर्घायु और इच्छाओं की सन्तुष्टि को दर्शाते हैं।
जलती धूप, धन, उपज (अनाज)।
दीपक जो ज्ञान की प्राप्ति के लिए अनुकूल है;
और पान के पत्ते जो सांसारिक सुखों के साथ सन्तोष अंकन करते हैं।
अभिषेक में निम्न वस्तुओं का प्रयोग नहीं किया जाता है।
केतकी के फूल।

भगवान शिव की अन्य पारंपरिक पूजा...
ज्योतिर्लिंग: बारह ज्योतिर्लिंग (प्रकाश के लिंग) जो पूजा के लिए भगवान शिव के पवित्र धार्मिक स्थल और केन्द्र हैं। वे स्वयम्भू के रूप में जाने जाते हैं, जिसका अर्थ है "स्वयं उत्पन्न"। बारह स्‍थानों पर बारह ज्‍योर्तिलिंग स्‍थापित हैं।

1. सोमनाथ यह शिवलिंग गुजरात के काठियावाड़ में स्थापित है।

2. श्री शैल मल्लिकार्जुन मद्रास में कृष्णा नदी के किनारे पर्वत पर स्थापित है श्री शैल मल्लिकार्जुन शिवलिंग।

3. महाकाल उज्जैन के अवंति नगर में स्थापित महाकालेश्वर शिवलिंग, जहाँ शिवजी ने दैत्यों का नाश किया था।

4. ॐ कारेश्वर मध्यप्रदेश के धार्मिक स्थल ओंकारेश्वर में नर्मदा तट पर पर्वतराज विंध्य की कठोर तपस्या से खुश होकर वरदाने देने हुए यहां प्रकट हुए थे शिवजी। जहां ममलेश्वर ज्योतिर्लिंग स्थापित हो गया।

5. नागेश्वर गुजरात के द्वारकाधाम के निकट स्थापित नागेश्वर ज्योतिर्लिंग।

6. बैजनाथ बिहार के बैद्यनाथ धाम में स्थापित शिवलिंग।

7. भीमाशंकर महाराष्ट्र की भीमा नदी के किनारे स्थापित भीमशंकर ज्योतिर्लिंग।

8. त्र्यंम्बकेश्वर नासिक (महाराष्ट्र) से 25 किलोमीटर दूर त्र्यंम्बकेश्वर में स्थापित ज्योतिर्लिंग।

9. घृष्णेश्वर महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में एलोरा गुफा के समीप वेसल गाँव में स्थापित घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग।

10. केदारनाथ हिमालय का दुर्गम केदारनाथ ज्योतिर्लिंग। हरिद्वार से 150 पर मिल दूरी पर स्थित है।

11. काशी विश्वनाथ बनारस के काशी विश्वनाथ मंदिर में स्थापित विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग।

12. रामेश्वरम्‌ त्रिचनापल्ली (मद्रास) समुद्र तट पर भगवान श्रीराम द्वारा स्थापित रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-143, (वर्ष-05)
2. मंगलवार, मार्च 1, 2022
3. शक-1984, फाल्गुन, कृष्ण-पक्ष, तिथि-चतुर्दशी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 12 डी.सै., अधिकतम-22+ डी सै.। बर्फबारी, उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...