शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2020

'पीएम' ने जारी किया ₹75 का सिक्का

आज FAO की 75वीं वर्षगांठ, पीएम मोदी जारी करेंगे 75 रुपए का सिक्का


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  शुक्रवार यानी 16 अक्टूबर को 75 रुपये  का स्मृति सिक्का जारी करेंगे। खाद्य एवं कृषि संगठन  की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर इस खास सिक्के को जारी किया जाएगा। यही नहीं हाल ही में विकसित की गईं आठ फसलों की 17 जैव संवर्धित किस्मों को भी राष्ट्र को समर्पित किया जाएगा। 75 रुपये के खास सिक्के (75 रूपीस कॉइन ) को जारी कर भारत और खाद्य एवं कृषि संगठन की के बीच मजबूत रिश्ते को चिह्नित करने की योजना है।
इस कार्यक्रम में सरकार का मुख्य जोर कृषि और पोषण के क्षेत्र में होगा। इस दौरान देश में मौजूद कुपोषण को पूरी तरह से खत्म करने को लेकर भी संकल्प लिया जाएगा। प्रधानमंत्री कार्यालय ( पीएम मो ) की ओर से इस आयोजन को लेकर बयान भी जारी किया गया। इसमें कहा गया कि कमजोर वर्गों और जनता को आर्थिक और पोषक रूप से मजबूत करने की यात्रा वाकई शानदार रही है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर,वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  और महिला व बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी भी इस कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे।
FAO का लक्ष्य लोगों को पर्याप्‍त मात्रा में अच्छी गुणवत्‍ता वाला भोजन नियमित रूप से सुनिश्चित करना है। ताकि वे सक्रिय और स्‍वस्‍थ रहें। एफएओ का कार्य पोषण का स्‍तर उठाना, ग्रामीण जनसंख्‍या का जीवन बेहतर करना और विश्‍व अर्थव्‍यवस्‍था की वृद्धि में योगदान करना है। एफएओ के साथ भारत का ऐतिहासिक संबंध रहा है। पीएमओ की ओर से दिए गए बयान में यह भी बताया गया कि भारतीय सिविल सेवा अधिकारी डॉ. बिनय रंजन सेन 1956 से 1967 के दौरान खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) के महानिदेशक थे। डॉ. बिनय के कार्यकाल के दौरान ही विश्व खाद्य कार्यक्रम ने नोबेल शांति पुरस्कार 2020 जीता था। वैश्विक स्तर पर भूख से लड़ऩे और खाद्य सुरक्षा के प्रयासों के लिए संयुक्त राष्ट्र के इस कार्यक्रम को यह सम्मान देने की हाल ही में घोषणा की गई है।             


तीसरी वैक्सीन भी बनकर तैयारः रूस



मास्को। वैक्सीन की दौड़ में रूस सबसे आगे निकलता दिखाई दे रहा है। रिपोर्ट्स के अनुसार, रूस ने कोरोना वायरस की तीसरी वैक्सीन भी बनाने का दावा कर लिया है। रूस ने अगस्त में अपनी पहली वैक्सीन स्पूतनिक-वी लॉन्च की थी। इसके बाद 14 अक्टूबर को दूसरी वैक्सीन एपिवैककोरोना आई और अब रूस की तीसरी वैक्सीन भी बनकर तैयार है। रूस की तीसरी वैक्सीन चुमाकोव सेंटर ऑफ रशियन एकेडमी ऑफ साइंसेज में बनाई जा रही है। रिपोर्ट्स की मानें तो इस इनएक्टिवेटेड वैक्सीन को दिसंबर 2020 तक मंजूरी मिलने की संभावना है। इस वैक्सीन को नोवोसिबिर्स्क, सेंट पीटर्सबर्ग और किरोव के मेडिकल फैसिलिटी में पहले और दूसरे चरण के ट्रायल की मंजूरी मिली है।           



बिहार में चुनावी सभा करेंगे 'पीएम' मोदी

पटना। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन यानी एनडीए ने अपना रिपोर्ट कार्ड जारी किया है। इसमें बिहार में केंद्र और राज्य सरकार के द्वारा जो काम किया गये हैं उसका उल्लेख किया गया है। इस मौके पर भाजपा, जदयू और जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के उपस्थित नेताओं ने एक बार फिर प्रदेश में राजग की सरकार बनने का दावा किया। साथ ही यह भी ऐलान किया गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार में 12 चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे। इस मौके पर उपस्थित बिहार भाजपा के चुनाव प्रभारी व महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फड़णवीस ने जानकारी देते हुए बताया कि बिहार में नरेंद्र मोदी की सभी रैली एनडीए की रैली होगी।             


चीनी राष्ट्रपति के स्वास्थ्य को लेकर अटकलें तेज

बीजिंग। चीन से उपजे कोरोना वायरस ने इन दिनों पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के स्वास्थ्य को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं। कुछ रिपोर्ट् के मुताबिक शी जिनपिंग बीमार पड़ गए हैं। यही कारण है कि शेन्जेन में कम्युनिस्ट पार्टी के भाषण के दौरान उन्हें बार-बार तेज खांसी आ रही थी। उन्हें बार-बार बोलने से रुकना पड़ रहा था। शी जिनपिंग को इतनी खांसी आ रही थी कि मीडिया के सभी कैमरे राष्ट्रपति से दूर हो गए, हालांकि कैमरे पर शी जिनपिंग के खांसने का ऑडियो लगातार रिकॉर्ड होता रहा। इस पूरे घटनाक्रम के बाद यह खबर तेजी से फैल रही है कि कहीं शी जिनपिंग कोरोना वायरस की गिरफ्त में तो नहीं आ गए हैं।


बढ़ते अपराध के ग्राफ से आम-जन चिंतित

गाजियाबाद। यह देखकर बहुत हैरानी होती है कि आज कल पश्चिम उत्तर-प्रदेश मे दिन प्रति दिन गोकशी और लव जेहाद और बलात्कार, लूट और हत्याओ के मामले बढ रहे है और विकास कार्यों के मामले मे यह क्षेत्र बहुत फिसड्डी रहा है। भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है, यही कारण है कि यहां शासन और प्रशासन की कार्य शैली पर सवालिया निशान उठते रहते है।पश्चिम उत्तर-प्रदेश विकास समिति के अध्यक्ष संदीप गुप्ता ने मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, अलीगढ़ ,मुज़फ्फरनगर, अमरोहा, सहारनपुर के कार्यकर्ताओ से गूगल मीट द्वारा बैठक ली।जिसमे पश्चिम उत्तर प्रदेश मे स्थानीय शासन और प्रशासन द्वारा कराए जा रहे विकास कार्यो के बारे मे चर्चा की और कहा कि हमारी समिति का मुख्य कार्य है। आम जनता और शोषित वर्ग के लिए मुखर होकर आवाज उठाना है और सरकार की योजनाओं को घर घर तक पहुँचाना है, क्योकि आज भी पश्चिम उत्तर प्रदेश का क्षेत्र पिछली और वर्तमान सरकार के कारण विकास के मामले मे बहुत फिसड्डी नजर आता है।जमीनी स्तर पर सिर्फ अपराध का ग्राफ इतना बढ़ गया है कि कोराना महामारी के कारण वैसे ही लोग भय मे जी रहे है परन्तु आम जन मे भय का वातावरण आजकल इतनें बढ रहें अपराधो को लेकर कि घर से निकलते हुए भी डर लगता है, जो कि बहुत चिंता का विषय है इस पर स्थानीय शासन और प्रशासन को बहुत ध्यान देना चाहिए। इसी के साथ पश्चिम उत्तर-प्रदेश विकास समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष संदीप गुप्ता ने उत्तर-प्रदेश के शासन और प्रशासन से मांग की है। पश्चिम उत्तर-प्रदेश मे विकास की गति बढाई जाए और अपराधो पर रोक लगाई जाए। जिसमे मेरठ से राजकुमार अग्रवाल, बागपत से दुलिचंद चौधरी, राहुल शर्मा, परविन्द्र चौहान,गाजियाबाद से प्रमोद मिश्रा, राकेश गुर्जर, काले बैसला,रवि तोमर,अलीगढ़ से कपिल प्रजापति, सूरज पाल, मुजफ्फरनगर से अजय गुप्ता, अमरोहा से गजेन्द्र जाटव, और सहारनपुर से विख्यात भारद्वाज, मोहम्मद अनीस, कमाल अहमद, शामिल हुए।


अंकित गोस्वामी


विधायक ने चेयरमैन का पद किया अस्वीकार

राणा ओबराय
बरवाला से जजपा विधायक जोगी राम सिहाग ने चेयरमैन का पद किया अस्वीकार


हिसार। निजी सुत्रो के अनुसार जिला हिसार के बरवाला विधानसभा से जजपा विधायक जोगी राम सिहाग ने चेयरमैन का पद अस्वीकार कर दिया है। सिहाग ने किसानों से जुड़े बिल के विरोध में पद लेने से मना किया है। हरियाणा सरकार ने कल ही चैयरमेन की सूची जारी की थी। जिसमें विधायक जोगीराम का नाम भी शामिल था।              


देसी-वनस्पति घी में पशु की चर्बी का उपयोग

देसी घी वनस्पति घी में हो रही पशु चर्बी की मिलावट
अतुल त्यागी


हापुड़। जनपद में मिलावट खोर मिलावट करने से बाज नहीं आ रही है। जहां एक तरफ त्योहारी सीजन में लोग शुद्धता और स्वच्छता के लिए ब्रांडेड माल खरीदते हैं। वहीं कुछ लोग इस में मिलावट करने से नहीं चूक रहे। ऐसा ही मामला जनपद हापुड़ के थाना कोतवाली क्षेत्र मैं देखने को मिला। जहां पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल करते हुए मिलावट खोरी का भंडाफोड़ किया। जनपद के थाना कोतवाली क्षेत्र में पुलिस को उस वक्त बड़ी सफलता हाथ लगी, जब पुलिस ने एक ट्रक को पकड़ा, जिसमें लगभग 5 लाख की कीमत की चर्बी बरामद की गई। ट्रक के अंदर 67 ड्रम पशु की चर्बी पुलिस ने पकड़ी कोतवाली क्षेत्र में उप निरीक्षक सरवन कुमार गौतम प्रभारी सिकंदर गेट व उप निरीक्षक राजीव शर्मा चौकी प्रभारी कोठीगेट अपनी टीम के साथ वाहनों की चेकिंग है। अवैध हथियार रखने वालों की चेकिंग कर रहे हैं व अवैध शराब की बरामदगी हेतु पुरानी चुंगी बुलंदशर रोड पर चेकिंग कर रहे थे।मुखबिर द्वारा सूचना मिली कि जोगीपुरा गांगोर जनपद सहारनपुर से 12 टायर ट्रक JH09L, 3585 में 67 ड्म पशु चर्बी से भरे हुए हैं। इसका वजन तकरीबन 13400 लीटर जिसकी कीमत लगभग 5 लाख है। विभिन्न मारकर जिसका सरगना खालिद अपने दो साथियों के साथ में भंडारण हेतु ले जा रहा है जो खाद्य पदार्थों देसी घी,वनस्पति घी,रिफाइंड में मिलाकर अधिक लाभ कमाने के उद्देश्य से आसपास के जनपदों में सप्लाई कर आर्थिक लाभ कमाता है। यदि जल्दी की जाए तो पकड़ा जा सकता है। मुखबिर की सूचना पर विश्वास करते हुए पुलिस द्वारा इन अभियुक्तों को पशुओं के साथ गिरफ्तार किया गया। खाली ड्रम विभिन्न मार्गों 3 कैन प्लास्टिक जिनकी केमिकल भरा हुआ था। करीब 50 लीटर एक यह ग्रुप को करने में इसे लेकर बाजार में बिकता था।         


'मिशन शक्ति' अभियान का शुभारंभ करेंगे

जनपद में मुख्य सचिव उ0प्र0 'मिशन शक्ति' अभियान का शुभारम्भ करेगें


झांंसी। जिलाधिकारी श्री आन्द्रा वामसी ने विकास भवन सभागार में बताया कि आगामी शरदीय नवरात्र दिनांक 17 अक्टूबर से आयोजित होने वाले महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा सम्मान एवं स्वाबलम्बन के लिये एक विशष अभियान मिशन शक्ति का शुभारम्भ प्रदेश के मुख्य सचिव श्री आर के तिवारी द्वारा किया जायेगा। उन्होने बताया कि 17 से 25 अक्टूबर तक विभिन्न कार्यक्रम आयोजित होगे किन्तु इसके उपरान्त भी उक्त विशेष अभियान जनपद में अनवरत जारी रहेगा। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में इस विशेष अभियान के पर्यवेक्षण व अनुश्रवण हेतु श्रीमती मिनिस्ती एस. महा निरीक्षक स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन उ0प्र0 को जनपद को नोडल अधिकारी नामित किया गया है। नोडल अधिकारी जनपद में होने वाले कार्यक्रमों में प्रतिभाग करेगे। उन्होने बताया कि नोडल द्वारा इस अभियान के अन्तर्गत जनपद के थाने विशेष रुप से महिला थाना, ग्राम पंचायतो औद्योगिक व व्यावसायिक संस्थानों से जुडे कार्यक्रमों में भी प्रतिभाग किया जायेगा। जिलाधिकारी ने बताया कि मिशन शक्ति विशेष अभियान के दौरान महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलम्बन तथा महिला अपराध व बाल अपराध के सम्बन्ध में जागरुकता पैदा करने हेतु विशिष्ट कार्यक्रम आयोजित किये जायेगे। दुर्गा पण्डाल कार्यक्रमों एवं गांव-गांव नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से भ्रूण हत्या, बाल अपराध आदि कुरीतियों के रोकथाम का प्रचार-प्रसार किया जायेगा। एलईडी वैन के माध्यम से महिला हेल्प डेस्क स्थापित होगी, साथ ही 1090, 112 तथा 181 की भी जानकारियां पावर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से दी जायेगी। जिलाधिकारी ने दिनांक 17 अक्टूबर से आयेाजित होने वाले कार्यक्रमों की जानकारी देते हुये बताया कि मुख्य सचिव उ0प्र0 शासन श्री राजेन्द्र कुमार तिवारी द्वारा प0दीनदयाल उपाध्याय सभाागार में महिला सशक्तिकरण एवं दुर्गा शक्ति विषयक कार्यक्रमों का दीप प्रज्जवलित कर शुभारम्भ किया जायेगा। अपरान्ह थाना कोतवाली में हेल्पडेस्क का शुभारम्भ होगा। दिनांक 18 अक्टूबर को नगर निगम सभागार में उद्योग विभाग/उद्यमियों के साथ कार्यस्थलों पर महिला उत्पीड़न की रोकथाम, महिला कर्मचारियों की सुरक्षा विषयक कार्यक्रम आयोजित होगे। 19 अक्टूबर को प0 दीनदयाल सभागार में जिला विद्यालय निरीक्षक के निर्देशन में बालिका/महिला शिक्षा से प्रेरित कार्यक्रम आयोजित होगे। उन्होने सप्ताह भर होने वाले कार्यक्रम की जानकारी देते हुये कहा कि परिवहन विभाग द्वारा बस स्टैंड पर महिला सुरक्षा/छेड़खानी होने पर कार्यवाही हेतु जानकारी देने विषयक पम्पलेट आदि वितरण होगे। ग्राम पंचायतों में नारी सशक्तिकरण के सम्बन्ध में चैपाल, पुलिस विभाग द्वारा कानून के विषयक कार्यक्रम, 181, 112, 1090, पुलिस मित्र एप, पिंक पुलिस स्टेशन, सेल्फ डिफेंस प्रशिक्षण, महिला पुलिस की भूमिका आदि पर कार्यक्रम आयोजित होगे।इस मौके पर वरिष्ठ पुलिस दिनेश कुमार पी, सीडीओ श्री शैलेष कुमार, नगर आयुक्त अवनीश कुमार राय, एसपी सिटी श्री विवेक त्रिपाठी सहित जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला प्रोवेशन अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक सहितउपस्थित रहे।


गिरजाशंकर राय              


शिक्षाविद स्वतंत्रता सेनानी रहेगें प्रेरणा स्रोत

रामपुर। इडियन यूनियन मुस्लिम लीग के जिला अध्यक्ष फारूक़ मियां ने प्रेस को जारी बयान मे बताया कि जिला मुख्यालय पर जिला अध्यक्ष की मौजूदगी में व समस्त पदाधिकारियों ने यह निर्णय लिया कि महान स्वतंत्रता सेनानी व शिक्षा विद सर सय्यद अहमद खान को 17 अक्तूबर को उनके जन्म दिन के अवसर पर श्रद्धाजंलि देते हैं। उनके राष्ट्र प्रेम से प्रेरित होकर राष्ट्र निर्माण में मुस्लिम लीग अपना पूर्ण योगदान देगी तथा आने वाले समय में जिला स्तर पर आम जनता को जिन विकट परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। उनसे अवगत कराने के लिए संवेधानिक रूप से व शांति पूर्ण ढंग से महामहिम राष्ट्रपति महोदय व देश के प्रधान मंत्री को गयापन भेजा जाएगा तथा नगर शेत्र रामपुर में बिजली चैकिंग के नाम पर जो लूटमार चल रही है, और परिवहन चैकिंग के नाम पर गरीब जनता की जेबों पर डाका मारा जा रहा है तथा एक तरफा एक समुदाय की दुकानों से जुर्माना वसूला जा रहा है। इन सभी बिन्दुओं पर फारूक़ मियां पार्टी मुख्यालय पर भूख हड़ताल पर बैठेंगे। यह भूख हड़ताल बेमियादी होगी पार्टी के समस्त पदाधिकारी फारूक़ मियां के सहयोग में पार्टी मुख्यालय में उपस्थित रहेंगे तथा शांति पूर्ण ढंग से इस विरोध प्रदर्शन में सहयोग करेंगे प्रशासन द्वारा भिन्न भिन्न प्रकार से जनता से अवैध वसूली व जनता के उत्पीड़न के विरोध में अपनी आवाज बुलंद करेंगे। जनता से अपील है कि वह अपने आवासों में रहकर हमारा सहयोग करें ओर दुआएं करें और हक के लिए अपनी आवाज बुलंद करे।           


स्पेशल ट्रेन के साथ 16 अन्य का संचालन

फरीदकोट। रेलवे ने बठिंडा-वाराणसी सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन सहित 16 अन्य ट्रेनों के संचालन को 20 अक्टूबर से मंजूरी दे दी है। रेलवे सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि बठिंडा-वाराणसी साप्ताहिक सुपर फास्ट स्‍पेशल रेल 25 अक्तूबर से 22 नवंबर तक हर रविवार को बठिंडा से रात्रि 8.50 बजे प्रस्थान कर अगले दिन सांय 4.30 बजे वाराणसी पहुंचेगी। वापसी पर यही सुपरफास्ट ट्रेन 26 अक्टूबर से 30 नवंबर तक प्रत्येक सोमवार को वाराणसी से रात्रि 9.20 बजे प्रस्थान कर अगले दिन सांय 4.50 बजे बठिंडा पहुंचेगी।           


उद्धव सरकार को बर्खास्तगी की याचिका खारिज

सुप्रीम कोर्ट ने उद्धव सरकार को बर्खास्त करने की मांग वाली याचिका की खारिज


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले गठबंधन सरकार को बर्खास्त करने तथा वहां राष्ट्रपति शासन लगाये जाने संबंधी जनहित याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी। मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे की अध्यक्षता वाली तीन-सदस्यीय खंडपीठ ने विक्रम गहलोत की याचिका यह कहते हुए खारिज कर दी कि एक अभिनेता की मौत होने का मतलब यह नहीं है। कि राज्य में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। न्यायमूर्ति बोबडे ने याचिकाकर्ता से कहा कि बतौर नागरिक वह राष्ट्रपति से संपर्क करने और कोई भी अर्जी लगाने के लिए स्वतंत्र हैं। उन्होंने कहा यदि ऐसी ही मांग करनी है। तो राष्ट्रपति के पास जाइए। याचिका में कहा गया था। कि महाराष्ट्र में राज्य मशीनरी फेल हो गई है। सत्ताधारी दल अपराधियों को बचाने का काम कर रहा है। याचिका में बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत अभिनेत्री कंगना रनौत का घर तोड़ डालने और धमकी देने तथा पूर्व नौसेना अधिकारी मदन लाल शर्मा पर शिवसैनिकों द्वारा जानलेवा हमले के उदाहरण भी दिये गये थे।             


पराली जलाने पर रोक के लिए विशेष टीम

पराली जलाने से रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने बनाई विशेष कमेटी, यूपी, हरियाणा और पंजाब में रखेगी निगरानी


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का कारण बनी पराली को जलाने पर रोक संबंधी कदमों की निगरानी के लिए सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक पूर्व न्यायाधीश जस्टिस मदन बी. लोकुर का एक सदस्यीय कमेटी गठित की है। लोकुर कमेटी पराली जलाए जाने की घटनाओं संबंधी अपनी रिपोर्ट दशहरा की छुट्टियों के बाद सुप्रीम कोर्ट को सौंपेगी। सर्वोच्च अदालत ने कहा कि पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पराली जलाने की घटनाओं पर नजर रखने में लोकुर कमेटी की मदद के लिए राष्ट्रीय कैडेट कोर ( एनसीसी ), भारत स्काउट्स और गाइड्स और राष्ट्रीय सेवा योजना ( एनसीसी) को भी उन क्षेत्रों तैनात किया जाए। ये मोबाइल टीमें खेतों में आग लगने की सूचना देंगी जिसके आधार पर अधिकारी कार्रवाई करेंगे। सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश दो युवा पर्यावरणविदों द्वारा दायर एक जनहित याचिका (पीआईएल) पर आया है। जिसमें मांग की गई थी। कि पराली जलाने से रोकने के लिए तुरंत कदम उठाए जाएं। याचिकाकर्ताओं ने दावा किया कि अदालत की निगरानी के बावजूद राज्य इस खतरे को रोकने के लिए पर्याप्त कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। याचिकाकर्ताओं की ओर से पैरवी करने वाले वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने कहा कि इस साल खेत की आग (पराली जलाने की घटनाएं) पांच गुना बढ़ गई हैं। और इसे रोकने के लिए तत्काल आदेश की आवश्यकता होगी, क्योंकि अदालत के दोबारा खुलने तक यह समस्या असहनीय स्थिति पैदा कर सकती है। वकील ने इसके लिए जस्टिस लोकुर को नियुक्त करने का सुझाव दिया। दैनिक हिंदुस्तान के अनुसार अदालत ने पंजाब और हरियाणा राज्यों को भी सुना और अपने आदेश में कहा कि भले ही पर्याप्त कदम उठाए गए हैं। लेकिन दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण के बीच निवारक कदम उठाए जाने की आवश्यकता है। जस्टिस ए. एस. बोपन्ना और जस्टिस वी. रामासुब्रमण्यन की बेंच ने कहा कि हम इस बात को लेकर चिंतित हैं। कि दिल्ली और एनसीआर के नागरिकों को अच्छी और स्वच्छ हवा में सांस लेनी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिवों को उन खेतों की निगरानी में लोकुर कमेटी की मदद करने का निर्देश दिया जिनमें पराली जलाई जाती है। कोर्ट ने कमेटी को सभी सहायता प्रदान करने और बुनियादी ढांचे, परिवहन और मोबाइल टीमों की सुरक्षा की व्यवस्था करने के लिए कहा है।             


महिला सुरक्षा को लेकर योगी ने दिखाए तेवर

महिला सुरक्षा को लेकर योगी आदित्यनाथ ने दिखाए कड़े तेवर, हर जिले में होगी नोडल ऑफिसर की तैनाती।


लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने उप चुनाव वाले सात जिलों को छोड़कर प्रदेश के अन्य सभी जिलों में महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलंबन के लिए शुरू किए जाने वाले 10 दिनों का विशेष अभियान ‘मिशन शक्ति’ शुरू करने का निर्देश दिया है। आगामी 17 अक्टूबर को प्रभारी मंत्री जिलों में इस अभियान की शुरुआत करेंगे। इस दिन सभी विभागों का संयुक्त कार्यक्रम होगा। अभियान के लिए सभी जिलों में महिला अफसरों को नोडल अधिकारी नामित किया गया है। मुख्य सचिव आरके तिवारी ने गुरुवार को अभियान के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किया। इसमें कहा गया है कि प्रथम चरण में यह विशेष अभियान शारदीय नवरात्र में 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक चलाया जाएगा। विशेष अभियान 25 अक्टूबर को समाप्त हो जाएगा लेकिन मिशन शक्ति लगातार जारी रहेगा। अंतिम रूप से इसका समापन अप्रैल 2020 में होगा। इस तरह यह अभियान कुल 180 दिनों तक चलाया जाएगा। अभियान के दौरान 75 जिलों के 821 ब्लॉकों, 59 हजार पंचायतों, 630 शहरी निकायों और 1535 थानों के माध्यम से महिलाओं व बालिकाओं को आत्मनिर्भर बनने का प्रशिक्षण तथा सुरक्षा व सम्मान के प्रति जागरूकता प्रदान किए जाने की योजना है।
हर जिले से चुनी जाएंगी 100 रोड मॉडल
अभियान के दौरान हर जिले से 100 रोल मॉडल का चुनाव किया जाएगा। यह चुनाव महिला सशक्तीकरण, भ्रूण हत्या रोकने, उद्यमिता, शिक्षा व महिला अपराध रोकने आदि क्षेत्र में मिली सफलता के आधार पर किया जाएगा। विशेष अभियान के सफल संचालन के लिए इसमें शामिल विभिन्न विभागों के बीच अंतरविभागीय समन्वय पर जोर दिया गया है। इसके लिए सभी विभागों को अपनी तरफ से नोडल अधिकारी नामित करने को कहा गया है।
तीन दिन जिलों में रहेंगी नोडल अफसर
हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार शासन ने विशेष अभियान के पर्यवेक्षण एवं अनुश्रवण के लिए महिला नोडल अधिकारी नामित किए हैं। इन नोडल अधिकारियों को 16 अक्टूबर तक अपने प्रभार के जिले में उपस्थित होकर अपने तीन दिनों तक जिले में होने वाले कार्यक्रमों में भाग लेने और जिला स्तर पर अंतर विभागीय समीक्षा की बैठक में हिस्सा लेकर विशेष अभियान को सफल बनाने का प्रयास करना होगा। नोडल अधिकारियों को विद्यालय, महिला थाना, कुछ ग्राम पंचायतों तथा औैद्योगिक व व्यावसायिक संस्थाओं आदि का निरीक्षण भी करने को कहा गया है।             


गाजियाबादः नकली देसी घी बनाने की फैक्ट्री

गाज़ियाबाद में नकली देसी घी बनाने वाली फैक्टरी पर पड़ा छापा नामी कंपनियों के नाम से करते थे सप्लाई


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। शास्त्री नगर और नई बस्ती इलाके में फूड सेफ्टी विभाग ने रेड की है। दो अलग-अलग फैक्ट्रियों पर रेड की गई है। जहां पर नकली घी बनाया जा रहा था। भारी संख्या में यहां से मिलावटी घी बरामद किया गया है। हैरत की बात ये है। कि नामी कंपनियों के पैकेट और डिब्बे भी दोनों जगह से बरामद हुए हैं। इन्हीं नकली डिब्बों में त्योहारी सीजन में मिलावटी घी को बाजार में उतारने की तैयारी थी। मामले में 2 लोगों को हिरासत में भी लिया गया है। मिलावटी घी के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। शुरुआती जानकारी के मुताबिक मिलावटी घी बनाने के लिए, वनस्पति और एसेंस समेत, कई अन्य पदार्थ का इस्तेमाल किया जा रहा था। ये सभी सेहत के लिए काफी हानिकारक होते हैं।
बताया जा रहा है। घी की एक कंपनी ने फूड सेफ्टी विभाग को सूचना दी थी। कि उनके ब्रांड का इस्तेमाल करके, नकली घी का कारोबार करने वाले कुछ लोग सक्रिय हैं। इसी जानकारी के आधार पर फूड सेफ्टी विभाग ने जानकारी को डेवलप किया और छापेमारी की गई। मौके से पकड़े गए एक आरोपी ने बताया कि पिछले 6 महीने से नकली घी बनाया जा रहा था। नवरात्रि से पहले इसकी बड़ी सप्लाई भी की गई थी।
त्योहारी सीजन में हो सकता है सेहत से खिलवाड़
फूड सेफ्टी विभाग के अधिकारी बता रहे हैं। कि त्योहारी सीजन में, इस तरह के गोरखधंधे सक्रिय हो गए हैं। जो नकली खाद्य पदार्थों का कारोबार कर रहे हैं। लेकिन उन सभी पर शिकंजा कसने का भी पूरा एक्शन प्लान तैयार है। फूड सेफ्टी विभाग के अधिकारी का कहना है। कि विश्वसनीय दुकानों से ही त्योहारी सीजन में घी और अन्य खाद्य पदार्थ खरीदें।               


मौसम बदलते ही प्रदूषण का कहर जारी

मौसम बदलते ही प्रदूषण का कहर शुरू खराब श्रेणी में पहुंची गाज़ियाबाद की आबोहवा


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। मौसम में ठंडक आते ही गाज़ियाबाद जिले में भी प्रदूषण ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। गाज़ियाबाद की वायु गुणवत्ता आज सुबह 9 बजे खराब श्रेणी में दर्ज की गई है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी किए गए आंकड़ों की माने तो गाज़ियाबाद में सुबह 9 बजे बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स (एकयूआई) 284 रहा जो ख़राब श्रेणी आता है।
गाजियाबाद के लोनी इलाके के प्रदूषण स्तर की बात करें तो यहां का एयर क्वालिटी इंडेक्स जनपद में सबसे अधिक दर्ज किया गया है। लोनी का एयर क्वालिटी इंडेक्स 305 दर्ज किया गया है। जो कि ‘अत्यंत खराब’ श्रेणी में है।
एक नज़र ग़ाज़ियाबाद के प्रदूषण स्तर पर।
इंदिरापुरम, गाजियाबाद: 294
वसुंधरा, गाजियाबाद: 272
संजय नगर, गाजियाबाद: 267
लोनी, गाजियाबाद: 305
विशेषज्ञों की माने तो दिल्ली एनसीआर में आने वाले समय में एयर क्वालिटी इंडेक्स में और बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है। बीते कई सालों से देखने को मिला है। कि अक्टूबर का महीना शुरू होते ही दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण पहरा जमाना शुरू कर देता है। आपको बता दें कि एयर क्वालिटी इंडेक्स जब 0-50 होता है। तो इसे ‘अच्छी’ श्रेणी में माना जाता है। 51-100 को ‘संतोषजनक 101-200 को ‘मध्यम 201-300 को ‘खराब 301-400 को अत्यंत खराब 400-500 को ‘गंभीर’ और 500 से ऊपर एयर क्वालिटी इंडेक्स को ‘बेहद गंभीर माना जाता है।                         


बिना ओटीपी के नहीं मिलेगा गैस सिलेंडर

बिना ओटीपी के नहीं मिलेगा घरेलू गैस सिलेंडर, 1 नवंबर से लागू हो रहा है ये नया सिस्टम


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। अब आपके घरेलू गैस सिलेंडर की होम डिलीवरी की प्रक्रिया पहले जैसी नहीं होगी। एक नवंबर से डिलीवरी सिस्टम में बदलाव होने वाला है। आने वाले दिनों में आपको बिना ओटीपी के एलपीजी सिलेंडर नहीं मिलेगा।
मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक चोरी रोकने और सही ग्राहक की पहचान के लिए तेल कंपनियां नया एलपीजी सिलेंडर का नया डिलीवरी सिस्टम लागू करने वाली हैं। इस नए सिस्टम को DAC का नाम दिया जा रहा है। यानी  डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड । पहले यह सिस्टेम 100 स्मार्ट सिटीज लागू होगा फिर इसके बाद अन्य शहरों में। इसका पायलट प्रोजेक्ट जयपुर में पहले से चल रहा है।
कोड दिखा कर ही होगी डिलिवरी
नए सिस्टम में केवल बुकिंग करा लेने भर से सिलेंडर की डिलीवरी नहीं होगी। आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक कोड भेजा जाएगा उस कोड को जब तक आप डिलीवरी ब्वाय को कोड नहीं दिखायेंगे तब तक सिलेंडर की डिलीवरी नहीं होगी। अगर किसी कस्टमर का मोबाइल नंबर अपडेट नहीं है। तो डिलीवरी ब्वाय के पास के ऐप होगा जिसके जरिए वह रियल टाइम अपना नंबर अपडेट करवा लेगा और उसके बाद कोड जनरेट हो जाएगा।
आज ही कराएं गैस कनैक्शन अपने नाम
नए सिस्टम से उन कस्टमर्स की मुश्किलें बढ़ जाएंगी, जिनका पता और मोबाइल नंबर गलत हैं। तो इस वजह से उन लोगों की सिलेंडर की डिलीवरी रोकी जा सकती है। तेल कंपनियां इस सिस्टम को पहले 100 स्मार्ट सिटी में लागू करने वाली हैं। बाद में धीरे-धीरे दूसरी सिटी में भी लागू कर सकती हैं। बता दें कि ये सिस्टम कमर्शियल सिलेंडर पर लागू नहीं होगा।             


25 करोड़ कर सकेंगे नामांकन, मिलेगा रोजगार

25 करोड प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देगी मोदी सरकार पोर्टल बनाने की तैयारियां शुरू


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। मोदी सरकार ने असंगठित क्षेत्र के प्रवासियों और अन्य श्रमिकों के लिए एक पोर्टल खोलने का प्रस्ताव रखा है। जिसमें आने वाले कुछ सालों में कम से कम 25 करोड़ मजदूरों का नामांकन हो सकेगा और ये पोर्टल उनके सामाजिक कल्याण के लिए काम करेगा। हाल ही में पद संभालने वाले केंद्रीय श्रम सचिव अपूर्व चंद्र ने कहा, ये ऐसा पहला पोर्टल होगा, ये चल रहे कई कार्यक्रमों से भी जुड़ा रहेगा जैसे आयुष्मान भारत या सब्सिडी वाली राशन योजना गरीब कल्याण अन्ना योजना, और श्रमिकों को मोबाइल फोन के माध्यम से सीधे पंजीकृत किया जाएगा।
आंकड़े एकत्र कर रही है सरकार
सरकार ने भारतीय कार्य बल के प्रवास पर पहला आधिकारिक सर्वेक्षण शुरू करने की योजना बनाई है । जिसमें मौसमी और लंबे समय तक प्रवासीय रहने वाले दोनों शामिल हैं। चंद्रा ने कहा कि पोर्टल और सर्वेक्षण से सरकार को माइग्रेशन पैटर्न को बेहतर तरीके से समझने में मदद मिल सकती है। और अलग-अलग तरह मजदूरों को डेटा जुटाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा, कार्यकर्ता आधार कार्ड से अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। या फिर दूसरे तीरकों से भी इसे पूरा किया जा सकता है।
श्रम मंत्रालय घरेलू श्रमिकों और पेशेवरों पर दो और सर्वेक्षणों की योजना बना रहा है। लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों की दुर्दशा, अपने घर लौटने के लिए पैदल जाते हुए मजदूरों को देखकर केंद्र सरकार की आलोचना हुई। श्रम मंत्रालय संसद में ये बताने और डेटा पेश करने में भी असफल रहा कि कितने श्रमिकों ने अपनी नौकरी खो दी और घर लौटते समय कितने की मृत्यु हो गई। मंत्रालय ने कहा कि 1.4 करोड़ प्रवासी कर्मचारी लॉकडाउन के दौरान घर लौट आए, लेकिन विशेषज्ञों ने सुझाव दिया कि ये डेटा सिर्फ श्रमिक विशेष ट्रेनों से यात्रा करने वाले मजदूरों का था। और बस, ट्रक और अन्य साधनों से लौटने की कोशिश करने वाले श्रमिकों को इसमें शामिल नहीं किया गया। समाचार रिपोर्टों के अनुसार, ओवरलोड ट्रकों में वापस चलने या यात्रा करने की कोशिश के दौरान कई श्रमिकों और उनके परिवार के सदस्यों की मृत्यु हो गई। विभिन्न अनुमानों से पता चलता है। कि भारत में 40 करोड़ से अधिक असंगठित श्रमिक हैं। और श्रम पर संसद की स्थायी समिति ने हाल ही में सामाजिक सुरक्षा के लिए प्रवासी श्रमिकों की परिभाषा का विस्तार करने का सुझाव दिया है।
श्रम पैनल के प्रमुख भर्तृहरि महताब ने कहा यह अच्छा है। कि सरकार ने असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को पंजीकृत करने के हमारे सुझाव को स्वीकार कर लिया है। यदि उन्होंने 25 करोड़ श्रमिकों को भर्ती करने के लिए प्रारंभिक लक्ष्य निर्धारित किया है। तो इसका मतलब है। कि वे मुख्य रूप से निर्माण क्षेत्र को लक्षित करेंगे क्योंकि अधिकांश असंगठित और प्रवासी श्रमिक उस क्षेत्र के है। चंद्रा ने हाल ही में लागू श्रम संहिता का भी समर्थन किया। उन्होंने कहा निश्चित अवधि के रोजगार में निश्चित वृद्धि होगी। कई उद्योगों ने हमें बताया था। कि वे भीड़ के मौसम के दौरान लोगों को रोजगार देने के इच्छुक हैं। या वे अपने अवकाश के दौरान छात्रों को अंशकालिक काम में चाहते थे। अब ये सभी रास्ते खुलेंगे।             


ग्लोबल आउटेज की वजह से ट्वीटर डाउन रहा

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर लगभग दो घंटे की ग्लोबल आउटेज की वजह से डाउन रहा। हालांकि अब ट्विटर सेवा फिर से बहाल हो गई है। लेकिन सर्विस के अचानक बंद होने से बहुत से यूजर्स को परेशानियों का सामना करना पड़ा। भारतीय समय के अनुसार करीब 7 बजे सोशल साइट ठप हो गई थी। कंपनी ने अब अधिकारिक जवाब देकर बताया है। कि उनकी साइट हैक नहीं हुई थी। इस दौरान कोई भी ट्वीट नहीं हो पा रहा था।  कुछ यूजर्स अपने अकाउंट में लॉगइन तो कर पा रहे थे। लेकिन उन्हें सर्च करने पर कुछ भी कंटेंट नहीं शो हो रहा था। कैलिफोर्निया स्थित कंपनी ने ट्वीट कर बताया ट्विटर आप में से कई लोगों के लिए डाउन हो गया है। और हम इसे वापस लाने और सभी के लिए चलाने के लिए काम में लगे हुए हैं। हमारी अपनी आंतरिक सिस्टम से कुछ परेशानी थी। हमारी सिक्योरिटी या साइट हैक होने का कोई सबूत नहीं मिला है।             


फटाफट तैयार कर सकते हैं सूजी का ढोकला

ढोकला एक फेमस नाश्ता है। आमतौर पर ढोकला बेसन से बनाया जाता है। लेकिन आज हम सूजी का ढोकला बनाने के रेसिपी बताएंगे। सूजी का ढोकला एक फटाफट बनने वाला नाश्ता है। और इसको बनाना भी बहुत आसान होता है। आप झटपट सूजी का ढोकला सुबह या शाम के नाश्ते में परोस सकते हैं। ऐसे बनाए आसान तरीके से सूजी का ढोकला। सबसे पहले बर्तन में रवा छान लें। फिर इसमें दही नमक और पानी डालकर घोल को पतला करने तक फेंटें।
अब घोल को 20 मिनट के लिए रखा छोड़ दे।
कड़ाही या भगोने में स्टैंड रखकर एक ग्लास पानी डालकर गर्म करें और एक थाली में तेल लगा कर चिकना कर लें।
इसके बाद घोल में बेकिंग सोडा और एक छोटा चम्मच तेल डालकर मिक्स करें। फिर घोल के तेल लगी थाली में डालकर फेलाएं। अब थाली को कड़ाही या भगोने में रखे स्टैंड के ऊपर रखकर पानी वाले बर्तन को दूसरी थाली से ढक दें और आंच मध्यम कर दें। 15 मिनट बाद बर्तन से थाली हटाकर घोल में चाकू या टूथपिक डालकर देखें, अगर इसमें घोल नहीं चिपकता है। तो घोल वाली थाली को बर्तन से निकाल लें।
फिर ढोकले के बेस को ठंडा करके चौकोर टुकड़ों में काट लें। तैयार हैं ढोकले। अब इसमें तड़का लगाने के लिए गैस पर पैन में तेल गर्म करें। तेल में जीरा, राई, करी पत्ता और हरी मिर्च का तड़का लगाकर 15 सैकेंड मध्यम आंच पर चलाएं। इसके बाद गैस बंद करके तड़के को ढोकलों के ऊपर डालकर इन्हें मिक्स कर लें। अब ढोकले हरी धनिया पत्तियों से गार्निश करके नारियल चटनी और हरी चटनी के साथ सर्व करें।              


सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है लौंग

पूजा पाठ और भोजन का स्वाद बढ़ाने के अलावा सेहत के लिए भी फायदेमंद है लौंग


यामिनी दुबे
रायपुर। लौंग केवल खाना का स्वाद बढ़ाने के अलावा या पूजा पाठ में काम आने के अलावा सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद है। दवाओं के रूप में इसका इस्तेमाल करने से कई हेल्थ प्रॉब्लम में भी फायदा होता है। लौंग में सबसे बेहतर एंटीऑक्सीडेंट, फेनोलिक कंपाउंड सबसे अधि‍क मात्रा में पाया जाता है। जी आपके स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद है। लौंग की तासीर गर्म होती है। इसलिए इसका इस्तेमाल अधिकतर सर्दी-खांसी की समस्या दूर करने के लिए किया जाता है। लेकिन इसके अलावा भी इसके कई अनगिनत फायदे हैं। 
लौंग के फायदे


लौंग के फायदे दिलाएँ दांतों के दर्द से राहत। 
लौंग चबाने के फायदे करें मुँह की दुर्गन्ध को दूर। 
लौंग खाने के लाभ हैं उबकन और उलटी का सफल उपचार। 
लौंग के औषधीय गुण बढ़ाएँ पाचन शक्ति। 
लौंग के लाभ दिलाएँ जोड़ों के दर्द से छुटकारा। 
लौंग उपयोग है। श्वसन तंत्र में प्रभावी। 
लौंग का उपयोग करें सिर दर्द के लिए। 
लौंग के गुण हैं               


सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

कश्मीर में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़।


श्रीनगर। कश्मीर के बडगाम जिले में घेराबंदी और तलाश अभियान के दौरान शुक्रवार को सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ हो गई। बताया जा रहा है। कि आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया सूचना के आधार पर राष्ट्रीय राइफल्स, केंद्रीय रिजव पुलिस बल और जम्मू कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह ने सुबह बडगाम के चाडूरा में संयुक्त अभियान छेड़ा। इसी दौरान सुरक्षा बल के जवान घरों की तलाशी ले रहे थे। तभी वहां छुपे आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में सुरक्षा बलों ने भी गोलियां चलाई और दोनों पक्षों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। आसपास के इलाकों में कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात किया है।              


3 बड़े गोल्फ टूर्नामेंट कोरोना की भेंट चढ़े

सिडनी। आस्ट्रेलिया के तीन बड़े गोल्फ टूर्नामेंट कोविड-19 की भेंट चढ़ गए हैं। इस बात का ऐलान किया गया कि पुरुष और महिला आस्ट्रेलियन ओपन और पीजीए चैम्पियनशिप को रद्द कर दिया गया है। यह तीनों टूर्नामेंट फरवरी में होने थे। 1945 के बाद से पहली बार हो रहा कि आस्ट्रेलियन ओपन पुरुष गोल्फ टूर्नामेंट का आयोजन नहीं किया जा रहा है। दूसरे विश्व युद्ध के आखिरी साल में पुरुष टूर्नामेंट नहीं खेला गया था। वहीं 1995 के बाद से पहली बार हो रहा है कि पीजीए चैम्पियनशिप नहीं खेली जाएगी और 2006 के बाद से पहली बार महिला आस्ट्रेलियन ओपन गोल्फ टूर्नामेंट नहीं होगा। आस्ट्रेलिया पीजीए के मुख्य कार्यकारी गैविन कर्कमैन ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, “यह अप्रत्याशित है और आस्ट्रेलियाई गोल्फ तथा उसके प्रशंसकों के लिए बहुत बड़ा झटका है।” उन्होंने कहा, “हमने सभी संबंधित अधिकारियों और साझेदारों के साथ इस पर महीनों चर्चा की है ताकि हम तीन टूर्नामेंट्स को सुरक्षित तरीके से आयोजित कराने का तरीका निकाल सकें। लेकिन कई प्लान आने के बाद भी हम इस फैसले पर पहुंचे हैं।” आस्ट्रेलिया ने कोविड को रोकने के लिए अपनी सीमाएं बंद कर रखी हैं। उन्होंने कहा, “हम इन तीनों टूर्नामेंट्स को 2021-22 में दोबारा लाने को तैयार हैं।             


आयोग के एक नया सर्च प्रॉम्प्ट लांच किया

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने भारत चुनाव आयोग के साथ साझेदारी में एक नया सर्च प्रॉम्प्ट लॉन्च किया है। जिसके माध्यम से बिहार विधानसभा चुनावों से जुड़ी विश्वसनीय और आधिकारिक जानकारी हासिल की जा सकती है। नया सर्च प्रॉम्प्ट उम्मीदवारों की सूची, मतदान की तारीख, पोलिंग बूथ की जानकारी, ईवीएम पर वोटर रजिस्ट्रेशन और चुनाव सम्बंधी अन्य जानकारियां दे सकेगा। इस सर्च प्रॉम्प्ट को ‘गेट द लेटेस्ट अपडेट्स’ नाम दिया गया है और इसे अंग्रेजी तथा हिंदी भाषाओं में 30 से अधिक हैशटैग के साथ एक्टीवेट कर दिया गया है।                 


टिहरी झील पर 300 करोड़ का झूला पुल बना

300 करोड़ का झूला पुल बनकर तैयार


प्रवेश राणा


देहरादून। उत्तराखंड के विश्व प्रसिद्ध टिहरी झील पर देश का सबसे बड़ा डोबरा-चांठी मोटरेबल झूला पुल बनकर तैयार हो गया है और बहुत जल्द ही इसका उद्घाटन भी होने वाला है। आपको बता दें कि 300 करोड़ की लागत से बना ये डोबरा चांठी पुल बनकर तैयार हो चुका है। हालांकि पुल पर अभी भी टेस्टिंग चल रही है। डोबरा-चांठी पुल प्रदेश का सबसे लम्बा सस्पेंशन पुल है, जिसकी कुल लंबाई 725 मीटर है। इसमें 440 मीटर सस्पेंशन ब्रिज हैं। इस पुल का निर्माण कार्य साल 2006 में शुरू हुआ था, जो अब बनकर तैयार हुआ है।                


भारत में कहां और क्यों मिलता है सस्ता सोना





नई दिल्ली। क्या आप जानते हों? भारत के कौन-कौन से शहरों में सस्ता सोना मिलता हैं और क्यों? अगर नहीं तो आपको बता दें कि दक्षिण भारत के राज्यों में उत्तर भारत के मुकाबले काफी सस्ते दामों पर सोना खरीदा जा सकता है। अगर आप दुबई घूमने जा रहे हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। यहां दुनिया में सबसे सस्ता सोना मिलता है और सोने की क्वालिटी भी काफी अच्छी होती है। दुबई स्थित डियरा सिटी सेंटर में दुनिया भर से लोग सोना खरीदने पहुंचते है। यहां दुनिया का सबसे सस्ता सोना मिलता है। भारत सहित कई देशों की तुलना में यहां सोने की कीमत 15 फीसदी तक कम है।आपको जानकर हैरानी होगी कि देश के सभी शहरों में 24 कैरेट और 22 कैरेट सोने की कीमत अलग-अलग रहती है। इसीलिए आज हम आपको उन शहरों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां सबसे सस्ता सोना मिल रहा है।         






जमीन से घास खाने के लिए जिराफ का संघर्ष

नई दिल्ली। जिराफ की गर्दन कितनी लंबी होती है ये तो सभी जानते ही हैं। लंबी गर्दन की मदद से वह बड़े से बड़े शाखाओं तक पहुंच सकते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि जिराफ जमीन से घास कैसे खाते हैं? सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जहां दिखाया गया है कि जमीन से घास खाने के लिए जिराफ किस तरह संघर्ष कर रहा है। ये देखने में इतना प्यारा है कि आपके चेहरे पर भी मुस्कान आ जाएगी। वीडियो को ट्विटर यूजर ‘डैनीडच’ ने ऑनलाइन शेयर किया था और माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर बड़े पैमाने पर वायरल हुआ। उन्होंने वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा, ‘मैंने कभी नहीं सोचा था कि जिराफ घास कैसे खा सकता है, लेकिन यह राजसी है।’ छोटी क्लिप में एक जिराफ अपने सामने के दो पैरों को अलग करता है और घास तक पहुंचने के लिए अपनी गर्दन को अजीब तरह से मोड़ता है। घास खाने के बाद वो फिर खड़ा होता है और फिर वैसा ही करता है। यह दिखने में काफी फनी लग रहा है।               


अधिकारों को लेकर एससी का बड़ा फैसला

नई दिल्ली। घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। इस फैसले का उद्देश्य बहू का ससुराल में अधिकार सुनिश्चित करना है। सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसले में कहा है कि ‘बहू को आश्रित ससुराल में रहने का अधिकार है। बहू को पति या परिवार के सदस्यों द्वारा साझा घर से निकाला नहीं जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि अगर यह घर ससुराल वालों द्वारा किराए पर लिया गया है या उनका हो और पति का इस पर कोई अधिकार नहीं है तो भी बहू को बाहर नहीं किया जा सकता।               


त्रिवेंद्र सरकार से हाईकोर्ट ने मांगा जवाब

हल्द्वानी बस अड्डे के निर्माण मामले में त्रिवेंद्र सरकार फंसी, नैनीताल हाईकोर्ट ने मांगा जवाब।


देहरादून। उत्तराखंड के हल्द्वानी में अंतरराज्यीय बस अड्डा के निर्माण के मामले में राज्य सरकार बुरी तरह फंस गई है। उच्च न्यायालय की ओर से प्रदेश सरकार को अंतिम मौका देते हुए बस अड्डे को गौलापार से अन्यत्र स्थानांतरित करने के मामले में जवाब देने को कहा है। अदालत ने सरकार से पूछा है। कि वह तीन सप्ताह के अंदर बताए की गौलापार से बस अड्डा स्थानांतरित करने के लिए कौन से कारण मौजूद हैं।
हल्द्वानी के गौलापार निवासी रवि शंकर जोशी की ओर से शुक्रवार को दायर जनहित याचिका पर कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रवि कुमार मलिमथ एवं न्यायमूर्ति रवींद्र पैठाणी की युगल पीठ में सुनवाई हुई। याचिकाकर्ता की ओर से कहा गया कि सरकार ने बिना उचित कारण के गौलापार में बनाए जाने वाले अंतरराज्यीय बस अड्डे को हल्द्वानी के तीन पानी क्षेत्र में स्थानांतरित करने का निर्णय ले लिया है।
याचिकाकर्ता की ओर से यह भी कहा गया सरकार अभी तक गौलापार में बनाए जाने वाले बस अड्डे पर 11 कराड़ रुपये खर्च कर चुकी है जबकि इसके लिए लगभग 2625 पेड़ों की बलि दी जा चुकी है। याचिकाकर्ता की ओर से आगे कहा गया किस वर्ष 2009-10 में प्रदेश सरकार की ओर से नए बस अड्डे के निर्माण के लिए हल्द्वानी में सर्वे काम शुरू किया गया। सर्वे टीम में वन विभाग, परिवहन विभाग एवं राजस्व के कर्मचारी शामिल थे। सर्वे टीम ने पाया कि गौलापार के रौखड़ क्षेत्र में मौजूद वन विभाग की आठ हेक्टेयर भूमि नए बस अड्डे के निर्माण के लिए उचित है। टीम ने यह भी पाया इस भूमि पर किसी प्रकार की अड़चन नहीं है। इसके बाद केंद्रीय वन मंत्रालय से अनुमति मांगी गई। याचिकाकर्ता की ओर से बताया गया कि 2015 में केंद्र सरकार की ओर से प्रदेश सरकार को कुछ शर्तों के साथ इस भूमि पर गैर वानिकी गतिविधि की अनुमति दे दी गई। साथ ही राज्य सरकार की ओर से 84 लाख रुपए इस भूमि पर मौजूद पेड़ों की कीमत के रूप में जमा किए गए तथा इतनी भूमि पर अलग से पौधारोपण किया गया। यही नहीं सात करोड़ 60 लाख रुपए का भुगतान बस अड्डे के निर्माण के लिए एक कंपनी को कर दिए गए। याचिकाकर्ता की ओर से अदालत को बताया गया अभी तक कुल 11 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं। इसके बावजूद 19 नवंबर 2018 को राज्य सरकार की ओर से बिना उचित कारण बताए इस भूमि पर बस अड्डे का निर्माण रोक दिया गया और अन्यत्र निर्माण का फैसला ले लिया गया। इसके बाद याचिकाकर्ता की ओर से इस मामले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी गई।               


हेडफोन के अंदर घुसी मकड़ी, कान गुदगुदाया

हेडफोन के अंदर थी बड़ी मकड़ी, महिला के कान में लगाते ही अचानक हुआ ये।


सिडनी। ऑस्ट्रेलिया में एक महिला प्लंबर ने हेडफ़ोन के उपयोग के दौरान अपने कानों में गुदगुदी महसूस की जिसके बाद जब उसने हेडफोन को कान से हटाकर देखा तो दंग रह गयी। दरअसल हेडफोन की नरम पैडिंग के अंदर एक बड़ी मकड़ी मौजूद थी। अब हेडफोन में मकड़ी का यह वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो गया है। ओली थर्स्ट अपने हेडफ़ोन में गुदगुदी के कारण काम पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रही थी। जिसके बाद उन्होंने हटा कर देखा। जब उसने उपकरण को हिलाकर मकड़ी से छुटकारा पाने की कोशिश की, तो वह हिल नहीं पायी और अंदर ही रह गई। साझा किए गए वीडियो में ओली कहती हैं। मैं अपने कान में गुदगुदी महसूस कर रही थी। वो मकड़ी बाहर आना चाहती थी। वीडियो तेजी से वायरल हुआ और फेसबुक यूजर्स ने इसपर हजारों कमेंट किए. कुछ लोगों ने कहा कि मकड़ियां मनुष्यों के लिए खतरनाक नहीं हैं। एक यूजर ने टिप्पणी की यह बुरा नहीं है। अच्छाई यह है। कि आपके कान को मकड़ी गुदगुदी कर रही थी। वो आप से अधिक डरी हुई होगी। एक यूजर ने लिखा एक छोटी सी चीज़ को शायद एक भयानक छेद मिला।             


सरकार ने खरीद के पुराने रिकॉर्ड तोड़ेः मोदी

किसानों ने उत्पादन और सरकार ने खरीद के पुराने रिकॉर्ड तोड़ेः मोदी


हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना के कारण जहां पूरी दुनिया संघर्ष कर रही है। वहीं भारत के किसानों ने इस बार पिछले साल के प्रोडक्शन के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया। क्या आप जानते हैं। कि सरकार ने गेहूं, धान और दालें सभी प्रकार के खाद्यान्न की खरीद के अपने पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार को खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) की 75 वीं वर्षगांठ पर स्मारक सिक्का जारी करते हुए भारत में खेती-किसानी की बेहतरी की दिशा में किए जा रहे प्रयासों को साझा किया। उन्होंने कहा कि किसानों को लागत का डेढ़ गुणा दाम एमएसपी के रूप में मिले, इसके लिए अनेक कदम उठाए गए हैं। एमएसपी और सरकारी खरीद, देश की फूड सिक्योरिटी का अहम हिस्सा हैं। इसलिए इनका जारी रहना स्वभाविक है। भारत में अनाज की बबार्दी हमेशा से बहुत बड़ी समस्या रही है। अब जब एसेंशियल कमोडिटीज एक्ट में संशोधन किया गया है । इससे स्थितियां बदलेंगी।
प्रधानमंत्री मोदी ने पौष्टिक तत्वों से भरपूर फसलों को बढ़ावा देने से जुड़ी सरकार की कोशिशों पर भी चर्चा की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कुपोषण से निपटने के लिए एक और महत्वपूर्ण दिशा में काम हो रहा है। अब देश में ऐसी फसलों को बढ़ावा दिया जा रहा है। जिसमें पौष्टिक पदार्थ- जैसे प्रोटीन, आयरन, जिंक इत्यादि ज्यादा होते हैं। इससे दो तरह के लाभ होंगे। एक तो पौष्टिक आहार प्रोत्साहित होंगे, उनकी उपलब्धता और बढ़ेगी। और दूसरा- जो छोटे किसान होते हैं। जिनके पास कम जमीन होती है। उन्हें बहुत लाभ होगा।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत में पोषण अभियान को ताकत देने वाला एक और अहम कदम उठाया गया है। आज गेहूं और धान सहित अनेक फसलों के 17 नए बीजों की वैरायटी देश के किसानों को उपलब्ध कराई जा रही हैं। आज भारत में निरंतर ऐसे रिफॉर्म्स किए जा रहे हैं। जो ग्लोबल फूड सिक्योरिटी के प्रति भारत की प्रतिबद्धता को दिखाते हैं। खेती और किसान को सशक्त करने से लेकर भारत के सार्वजनिक वितरण प्रणाली तक में एक के बाद एक सुधार किए जा रहे हैं।             


170 मामलों की सूची जारी, कानून बनाने की मांग

विहिप ने लव जेहाद के 170 मामलों की जारी की सूची सरकार से कानून बनाने की मांग।


नई दिल्ली। विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने लव जिहाद की शिकार लड़कियों की आत्महत्या, हत्या और दुर्दशा की बढ़ती घटनाओं पर चिंता और आक्रोश व्यक्त करते हुए सरकार से कठोर कानून बनाने की मांग की है। विश्व हिंदू परिषद ने लव जेहाद के 170 मामलों की सूची भी जारी की है।
विहिप के केन्द्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ. सुरेन्द्र जैन ने कहा कि लव जेहाद की घटनाओं की झड़ी सी लग गई है। लखनऊ में एक पीड़ित महिला का आत्मदाह करना हो या सोनभद्र में पीड़िता का सिर कटा शव मिलना हो, पिछले 8-10 दिन से बड़ी संख्या में ये घटनाएं सामने आ रही हैं। जो किसी पत्थर दिल व्यक्ति का दिल दहलाने के लिए भी पर्याप्त हैं।
केरल से लेकर जम्मू कश्मीर और लद्दाख तक इन षड्यंत्रकारियों का एक जाल बिछा हुआ है। गैर मुस्लिम लड़कियों को योजनाबद्ध तरीके से जबरन या धोखे से अपने जाल में फंसा लेना किसी सभ्य समाज का चिंतन नहीं हो सकता। यह केवल जनसंख्या बढ़ाने का भोंडा तरीका ही नहीं, अपितु आतंकवाद का एक प्रकार भी है।
विहिप नेता ने कहा कि केरल उच्च न्यायालय ने इसे धर्मांतरण का सबसे घिनौना तरीका बता कर ही इसे लव जिहाद नाम दिया था। विश्व हिंदू परिषद ने पिछले आठ से दस वर्षों में संज्ञान में आईं 170 घटनाओं की सूची बनाई है। डॉ. सुरेंद्र जैन ने बताया कि एक अनुमान के अनुसार प्रतिवर्ष 20,000 से अधिक गैर मुस्लिम लड़कियां इस षड्यंत्र का शिकार बन जाती हैं। जाल में फंसने के बाद इन लड़कियों का न केवल जबरन धर्मांतरण होता है। बल्कि नारकीय जिंदगी जीने पर मजबूर किया जाता है। वेश्यावृत्ति करवाने और उन्हें बेच देने की घटनाओं के अलावा पूरे परिवार के पुरुषों व मित्रों के साथ जबरन यौन शोषण की घटनाएं भी समाचार पत्रों में आती ही रहती हैं। जब इन अमानवीय यातनाओं की अति हो जाती है। तो ये लड़कियां आत्महत्या के लिए विवश हो जाती हैं। परंतु पुलिस में शिकायत करने का अवसर बहुत कम लड़कियों को मिल पाता है। एक न्यायालय ने तो अपनी टिप्पणी में पूछा भी था। कि लव जेहाद की शिकार लड़कियां गायब क्यों हो जाती है।
विहिप ने कहा कि अब विश्व के कई देश इससे त्रस्त होकर आवाज उठाने लगे हैं। म्यांमार की घटनाओं के मूल में भी लव जिहाद ही है। श्रीलंका में 10 दिन की आंतरिक एमरजेंसी लगाकर वहां के समाज के आक्रोश को शांत करना पड़ा था। लव जिहाद की फंडिंग के समाचार सामने आ रहे हैं।
पीएफआई, सिमी आईएसआई जैसी संस्थाएं इनके पीछे हैं। इसीलिए कहीं भी मामला बढ़ने पर बड़े वकील तुरंत इनकी पैरवी के लिए खड़े हो जाते हैं। जिनको लाखों-करोड़ों रुपए फीस के रूप में दिए जाते हैं। केरल की हादिया का उच्चतम न्यायालय में एक बड़े वकील द्वारा बड़ी फीस लेने का उदाहरण सबके सामने है।           


ट्रंप और बाइडन ने अलग-अलग सभाएं की

ट्रंप, बाइडन ने डायरेक्ट डिबेट के बजाय अलग-अलग सभाएं की।


वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बाइडन में दूसरी बहस करने को लेकर सहमति नहीं बनी और बहस के बजाय दोनों ने एक-दूसरे पर आरोप लगाते हुए दो अलग-अलग टाउन हॉल कार्यक्रमों में भाग लिया। दोनों कार्यक्रम गुरुवार रात को हुए।
जहां फिलाडेल्फिया में एबीसी न्यूज द्वारा बाइडन के टाउन हॉल की मेजबानी की गई थी। वहीं एनबीसी न्यूज द्वारा मियामी में ट्रंप के 60 मिनट के अपीयरेंस के साथ टाउनहॉल में मेजबानी की गई। 3 नवंबर के चुनाव दिवस से पहले केवल 19 दिन शेष रहने के बीच ट्रंप को अपनी कोविड-19 प्रतिक्रिया और चुनावी दौड़ पर कठिन सवालों का सामना करना पड़ा, जबकि बाइडन को अल्पसंख्यकों को प्रभावित करने वाले विवादास्पद अपराध बिल के लिए समर्थन देने को लेकर सवालों का सामना करना पड़ा। बाइडन जहां इत्मीनान के साथ जवाब देते दिखाई दिए वहीं ट्रंप का सवालों से जूझते और बचाव करने का चिरपरिचित अंजाद देखने को मिला। दोनों कार्यक्रमों में विदेश नीति पर बात बमुश्किल ही हुई। गौरतलब है कि कोरोना से संक्रमित हो चुके राष्ट्रपति ट्रंप और बाइडन के बीच 15 अक्टूबर को दूसरी बहस होने वाली थी लेकिन ट्रंप ने वर्चुअल रूप से बहस में भाग लेने से मना कर दिया जिसकी वजह से ऐसा नहीं हो सका। हालांकि, बाइडन वर्चुअल रूप से बहस करने को लेकर राजी थे। ट्रंप की घंटे भर के इवेंट में दिलचस्प का क्षण तब था। जब उन्होंने स्पष्ट रूप से श्वेत वर्चस्ववादियों की निंदा की जो उन्होंने अपनी बहस में स्पष्ट रूप से नहीं किया था। उन्होंने फिर बाइडन को चुनौती दी कि वह एंटी-फासिस्ट मूवमेंट की निंदा करें, जो हाल के महीनों में पुलिस की बर्बरता और नस्लवाद के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान हिंसा और लूटपाट के पीछे है। जो डेमोक्रेट द्वारा समर्थित है। 22 अक्टूबर को ट्रंप और बाइडन के बीच तीसरी प्रेसिडेंशियल डिबेट निर्धारित है। 3 नवंबर चुनाव दिवस से पहले केवल 19 दिन शेष होने के साथ लगभग 1.6 करोड़ अमेरिकियों ने पहले ही शुरुआती मतदान में अपने मतपत्र डाल दिए हैं।             


अक्षय के साथ काम को लेकर उत्साहित हूँ

अक्षय कुमार के साथ काम करने को लेकर उत्साहित हूंः मानुषी छिल्लर


मनोज सिंह ठाकुर


मुंबई। पूर्व ब्यूटी क्वीन मानुषी छिल्लर बॉलीवुड में डेब्यू करने के लिए तैयार हैं। उनका कहना है। कि वह सुपरस्टार अक्षय कुमार के साथ फिल्म के सेट पर आने के लिए उत्साहित हैं। मानुषी आगामी ऐतिहासिक फिल्म पृथ्वीराज में अक्षय के साथ बॉलीवुड की शुरुआत कर रही हैं। उन्होंने कहा मैं पृथ्वीराज के सेट पर वापस आने के लिए रोमांचित हूं क्योंकि मैंने इस लाइफ को बुरी तरह से मिस किया है। मैं हर दिन शूटिंग के लिए तैयार हूं क्योंकि मैं बहुत कुछ सीख रही हूं और मुझे यह पसंद आ रहा है। मैं अक्षय सर के साथ सेट पर होने के लिए उत्साहित थी। क्योंकि मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा है। और बहुत कुछ सीखना बाकी है।
मानुषी ने खुलासा किया कि अक्षय ने उन्हें काम के लिए बहुत प्रोत्साहित किया और वह इसके लिए आभारी हैं। उन्होंने कहा मैं टीम के साथ काम करने के लिए खुद को भाग्यशाली मानती हूं और हर कोई का सहयोग मिला है। जब आप डेब्यू करते हैं। तो यह कठिन होता है। और आप अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहते हैं। अक्षय सर सहित हर कोई बहुत सहयोगी और उत्साह बढ़ाने वाला है। पृथ्वीराज चौहान के जीवन और वीरता पर आधारित फिल्म है। कोरोनावायरस महामारी का देश में प्रकोप फैलने से पहले फिल्म ने अपने फिल्मांकन का एक बड़ा हिस्सा पूरा कर लिया था। फिल्म का निर्देशन डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी कर रहे हैं। जिन्होंने टेलीविजन महाकाव्य चाणक्य और पीरियड ड्रामा पिंजर बनाया था।              


बेरोजगारों को रोजगार दिए जाने की मांग

अनिश्चितकालीन धरना 16 दिनों से है। जारी बेरोजगारों को रोजगार दिए जाने की मांग।


राहुल चौबे
सुकमा। जिला मुख्यालय में ऑल इंडिया स्टूडेन्टस् फेडरेशन।ऑल इंडिया यूथ फेडरेशन विगत 29 सितम्बर से नागरिक आपूर्ति निगम विभाग में लेखापाल पद पर कार्यरत तुलाराम नाग को बिना किसी कारण व सूचना के नौकरी से हटा दिए। इसके विरोध में तुलाराम नाग को पुन। नियुक्त करने स्थानीय बेरोजगारों रोजगार दिया जाने की की मांग को लेकर विगत 16 दिनों से धरने में बैठे हैं। इसके समर्थन में कोन्टा ब्लाक के महिला फेडरेशन पहुंचकर तुलाराम नाग को पुन। नियुक्ति करने की मांग की। महिला फेडरेशन ने कहा मांग व धरना के साथ है। और साथ रहेंगे हम सब अपने हक अधिकार कि लड़ाई तेज करने की बात कही है। इस दौरान अखिल भारतीय महिला फेडरेशन के ब्लाक उपाध्यक्ष ललिता सरियम सचिव ओयाम गंगोत्री, कोषाध्यक्ष लीना ओयाम अनिश्चित कालीन धरना की समर्थन में बैठे रहे। इस दौरान एआईएसएफ।एआईवायएफ के कार्यकर्ता उपस्थित थे।            


हटकेः युवक की जेब में फटा 'मोबाइल फोन'

दिल दहला देने वाला मामलाः युवक की जेब में फटा मोबाइल फोन, गुप्तांग में आई चोट लोगों ने ऐसे बचाई जान।


नरेश राघानी


राजस्थान। राज्य से दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। भरतपुर जिले में एक 18 साल के युवक की जेब में पड़ा मोबाइल फोन अचानक फट गया। बताया जा रहा है। कि फोन की बैटरी इतनी गर्म हो गई थी। कि मोबाइल फट गया। मोबाइल के फटने से युवक के कपड़ों में आग लग गई, जिसको मौके पर मौजूद लोगों ने किसी तरह मिट्टी डाल कर बुझाया और गंभीर हालत में घायल हुए युवक को आनन-फानन में अस्पताल भर्ती कराया गया जहां अब उसकी हालत स्थिर बतायी जा रही है। क्यों फट जाता है। मोबाइल आपने पहले भी फोट के फटने की घटनाओं के बारे में जरूर सुना होगा, पर क्या आप जानते और समझते है। कि ये कितना जानलेवा साबित हो सकता है। फोन की बैटरी लिमिट से ज्यादा अगर गर्म हो जाती है। तो अकसर ऐसी घटनाएं सामने आती है। फोन के इस्तेमाल पर सभी को नजर रखनी चाहिए। आपके मोबाइल के अधिक इस्तेमाल करने से मोबाइल की बैटरी गर्म हो जाती है। जिससे फटने की संभावना बढ़ जाती है। अगर आपको लगे कि आपका फोन गर्म हो गया है। तो मोबाइल को कुछ समय के लिए खुद से दूर रख दें। जब तक वो नॉर्मल स्थिति में नहीं आ जाता। आपका गर्म मोबाइल हाथ में रखना, कान पर लगा कर बात करना, कहीं ऐसी जगह रखना जहां आसपास लोग मौजूद हो ये जानलेवा साबित हो सकता है।             


दबाव में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सकेः कोहली

हम दबाव में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सकेः विराट


नई दिल्ली। किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ मिली हार के बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के कप्तान विराट कोहली ने कहा है। कि उनकी टीम दबाव में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सकी। बेंगलुरु ने पंजाब को 172 रन का लक्ष्य दिया था। पंजाब ने कप्तान लोकेश राहुल के 49 गेंदों में एक चौका और पांच छक्कों की मदद से नाबाद 61 और क्रिस गेल के 53 रन की पारी की बदौलत दो विकेट पर 177 रन बनाकर मैच जीत लिया। बेंगलुरु की ओर से विराट ने सर्वाधिक 48 रन बनाए।
विराट ने कहा यह हार थोड़ी आश्यर्यचकित करने वाली है। हम दबाव में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सके लेकिन अंत में पंजाब ने बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया। एबी डीविलियर्स को नंबर छह पर उतराने के फैसले पर हमने चर्चा की थी। और ऐसा बाएं हाथ दाएं हाथ के संयोजन के कारण किया गया। कई बार कुछ फैसले आपके अनुमान के विपरीत हो जाते हैं। लेकिन मेरे ख्याल से 170 सही स्कोर था। उन्होंने कहा हमारी योजना शुरुआत से बड़े शॉट खेलने की थी। लेकिन हम उनपर दबाव नहीं डाल पाए। हमें अपने गेंदबाजी विभाग पर गर्व था। लेकिन इस मैच में यह विभाग असफल रहा। लेकिन इस मैच में कुछ सकारात्मक बात भी हुई। ईमानदारी से कहूं तो युजवेंद्र चहल से मेरी कोई बात नहीं हुई। चीजें लगातार रोमांचक हो रही थी।             


'कोरोना काल' में भी लड़ रहा है भारत

कोरोना काल में कुपोषण के खिलाफ मजबूती से लड़ रहा भारतः मोदी।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में 75 रुपये का स्मारक सिक्का जारी किया। इस दौरान उन्होंने हाल ही में विकसित आठ फसलों की 17 जैव-संवर्धित किस्में राष्ट्र को समर्पित की। इस दौरान उन्होंने वर्ल्ड फूड डे की शुभकामनाएं देते हुए कुपोषण के खिलाफ भारत के प्रयासों को बताया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, दुनियाभर में जो लोग कुपोषण को दूर करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। मैं उन्हें भी बधाई देता हूं। इन सभी के प्रयासों से ही भारत कोरोना के इस संकटकाल में भी कुपोषण के खिलाफ मजबूत लड़ाई लड़ रहा है। भारत के हमारे किसान साथी, हमारे अन्नदाता, हमारे कृषि वैज्ञानिक, हमारे आंगनबाड़ी-आशा कार्यकर्ता, कुपोषण के खिलाफ आंदोलन का आधार हैं। इन्होंने अपने परिश्रम से जहां भारत का अन्न भंडार भर रखा है। वहीं दूर-सुदूर, गरीब से गरीब तक पहुंचने में ये सरकार की मदद भी कर रहे हैं।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को इस वर्ष का नोबल शांति पुरस्कार मिलना भी एक बड़ी उपलब्धि है। भारत को खुशी है। कि इसमें भी हमारी साझेदारी और हमारा जुड़ाव ऐतिहासिक रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 2014 के बाद देश में नए सिरे से प्रयास शुरू किए गए। हम इंटीग्रेटेड और होलिस्टिक अप्रोच लेकर आगे बढ़े। तमाम अवरोधों को समाप्त करके हमने एक मल्टी डायमेंशनल रणनीति पर काम शुरू किया।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बीते कुछ महीनों में पूरे विश्व में कोरोना संकट के दौरान भुखमरी-कुपोषण को लेकर अनेक तरह की चचार्एं हो रही हैं। बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स अपनी चिंताएं जता रहे हैं। कि क्या होगा, कैसे होगा। इन चिंताओं के बीच, भारत पिछले 7-8 महीनों से लगभग 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन उपलब्ध करा रहा है। इस दौरान भारत ने करीब-करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपए का खाद्यान्न गरीबों को मुफ्त बांटा है।             


एसआईटी शासन को सौंप सकती है रिपोर्ट

हाथरस कांडः एसआईटी जल्द सौंप सकती है शासन को अपनी रिपोर्ट


हाथरस। उत्तर प्रदेश के हाथरस में युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म के दौरान मारपीट तथा उसकी मौत के कारणों की जांच कर रही प्रदेश सरकार की स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (एसआइटी) ने अपनी पड़ताल पूरी कर ली है। अब यह टीम प्रदेश सरकार को अपनी रिपोर्ट देगी। माना जा रहा है। कि जल्द टीम अपनी रिपोर्ट सौंप सकती है। हालांकि एसआईटी की टीम अभी भी हाथरस में है। सूत्रों की मानें तो एसआईटी का समय एक बार और बढ़ाया जा सकता है। जानकारी के अनुसार, एसआईटी को 30 सितंबर को हाथरस कांड में पुलिस की भूमिका की जांच के लिए भेजा गया था। उसे सात दिनों में अपनी जांच पूरी करने को कहा गया था। लेकिन जांच के दौरान नए नए तथ्य सामने आने के बाद एसआईटी का समय 10 दिनों के लिए और बढ़ा दिया गया। सूत्रों का कहना है। कि एसआईटी ने अपनी जांच पूरी करने के लिए और समय मांगा है। फिलहाल एसआईटी की टीम हाथरस में ही है। इस बाबत गृह विभाग के अधिकारी भी अभी कुछ नहीं बोल रहे हैं। हाथरस कांड की जांच करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर एसआईटी गठित की गई। गृह सचिव भगवान स्वरूप के नेतृत्व में डीआइजी चंद्रप्रकाश तथा एसपी पूनम ने इस प्रकरण की जांच शुरू की। एसआईटी ने अपनी पड़ताल के दौरान हाथरस के बुलगड़ी गांव में सौ से अधिक लोगों के बयान दर्ज करने के साथ चंदपा थाना के कर्मियों, हाथरस जिला अस्पताल तथा अलीगढ़ के मेडिकल कालेज प्रबंधन से भी बात की।
बुलगड़ी गांव में बयान दर्ज कराने वालों में पीड़ित परिवार के सदस्य, सभी आरोपी व उनके परिवार के लोगों के साथ पुलिस व प्रशासन के अधिकारी शामिल हैं। एसआईटी की जांच अब अंतिम चरण में पहुंच चुकी है। एसआईटी ने पुलिस अधिकारियों कर्मियों के अलावा स्वास्थ्य कर्मियों पीड़ित पक्ष और आरोपी पक्ष के लोगों से कई अहम जानकारियां हासिल की हैं। एसआईटी ने गांव के 40 लोगों को भी नोटिस देकर बुलाया है। हालांकि कुछ लोग अभी तक एसआईटी के सामने पेश नहीं हुए हैं। बृहस्पतिवार को एसआईटी ने फिर कुछ लोगों से पूछताछ की और छानबीन की। माना जा रहा है कि अगले एक-दो दिन में एसआईटी अपनी जांच रिपोर्ट शासन को सौंप देगी। ज्ञात हो कि हाथरस के बुलगड़ी गांव में 14 सितंबर को दलित युवती के साथ कथित रूप से सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। इस दौरान मारपीट में गंभीर रूप से घायल दलित युवती ने 29 सितंबर को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया था। उसके बाद जिस तरह हाथरस में आनन-फानन में युवती का अंतिम संस्कार किया गया उसपर काफी विवाद हुआ था। ज्यादा हो हल्ला के बीच योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर तत्काल तीन सदस्यीय एसआइटी का गठन किया गया। एसआईटी की शुरूआती जांच के आधार पर ही हाथरस के एसपी विक्रांतवीर तथा सीओ को सस्पेंड किया गया था।             


मायावती ने किया योगी सरकार पर हमला

बलिया हत्याकांड मामले को लेकर मायावती का योगी सरकार पर हमला, यूपी की कानून व्यवस्था दम तोड़ चुकी। 


लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी ( बीएसपी ) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने बलिया के रेवती थानाक्षेत्र के दुर्जनपुर गांव की घटना को लेकर सरकार पर निशाना साधा और कहा कि कानून-व्यवस्था दम तोड़ चुकी है। मायावती ने ट्विटर के माध्यम से शुक्रवार को लिखा कि यूपी में बलिया की हुई घटना अति-चिन्ताजनक तथा अभी भी महिलाओं व बच्चियों पर आए दिन हो रहे उत्पीड़न आदि से यह स्पष्ट हो जाता है। कि यहां कानून-व्यवस्था काफी दम तोड़ चुकी है। सरकार इस ओर ध्यान दे तो बेहतर होगा। बसपा की यह सलाह। गौरतलब हो कि मिडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बलिया में सरकारी कोटे की दुकान को लेकर हुए विवाद में कथित तौर पर बीजेपी नेता धर्मेंद्र सिंह ने एसडीएम और सीओ के सामने एक युवक की गोली मारकर हत्‍या कर दी। दिनदहाड़े हुई इस घटना से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया है। इस मामले में सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने मौके पर मौजूद एसडीएम सीओ और अन्‍य अधिकारियों-पुलिसकर्मियों को तत्‍काल प्रभाव से सस्‍पेंड करने का आदेश दे दिया है।             


भारत में मिला दो सिर वाला 'दुर्लभ शार्क'

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रकृति में कुछ चीजों ऐसी होती हैं, जिसके बारे में हमें कोई अंदाजा या ज्ञान नहीं होता है लेकिन जब हम उसे देखते हैं तो चौंक जाते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ महाराष्ट्र के पालघर में, जहां एक मछुआरे ने दो सिर वाले शार्क के बच्चे को पकड़ा जो बेहद ही दुर्लभ दिख रहा था। सतपति गांव के मछुआरे नितिन पाटिल ने इस छोटी मछली को अपने जाल में फंसा लिया।शार्क मछली के बच्चे के दो सिर देखकर वो भी हैरान रह गए और तस्वीरें लेने के बाद उसे फिर से समुद्र में छोड़ दिया।वैज्ञानिकों के मुताबिक इस दुर्लभ शार्क के दो सिर होने का कारण आनुवंशिक समस्या हो सकती हैं। अब दो सिर वाले शार्क मछली के बच्चे की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं।                           


छत्तीसगढ़ः सीएम भूपेश ने दिया बड़ा बयान

छत्तीसगढ़ः सीएम भूपेश बघेल का बड़ा छत्तीसगढ़ सीएम भूपेश बघेल का बड़ा बयान- मरवाही उपचुनाव और अमित जोगी को लेकर कहीं ये बात 


रायपुर। सीएम भूपेश बघेल ने मरवाही को कांग्रेस की परंपरागत सीट बताते हुए यहां कांग्रेस प्रत्याशी की जीत को पक्का बताया है। सीएम बघेल ने मरवाही रवाना होने से पहले ये बयान दिया है। उनके मुताबिक पिछले 15 सालों में मरवाही की अनदेखी की गई जिसके कारण मरवाही विकास से वंचित रहा। मरवाही में विधायकों की ड्यूटी पर भी सीएम बघेल ने बयान दिया है। उनके मुताबिक उपचुनाव होता है तो सबकी ड्यूटी लगती है। ये एक प्रक्रिया है जिसका पालन करना होता है। सीएम बघेल मरवाही में कांग्रेस के सामने कोई चुनौती नहीं देखते। हालांकि चुनाव को चुनाव की तरह लड़ने में विश्वास रखते हैं। मरवाही जाने के दौरान सीएम बघेल ने जोगी परिवार पर तंज कसते कहा कि केवल वैध एसटी प्रमाण पत्र वाले ही चुनाव लड़ेंगे।               


बच्चें को अगवा कर मंगवा रहे थे भीख, अरेस्ट

पति-पत्नी बच्चे का अपहरण करके मंगवा रहे थे। भीख, फिर एक दिन।


नई दिल्ली। शाखा की मानव-तस्करी विरोधी इकाई ने दक्षिण पूर्वी दिल्ली में पुलिस ने दंपत्ति (पति-पत्नी) को एक बच्चे का अपहरण करने और फिर उससे भीख मंगवाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। अधिकारियों के मुताबिक बच्चे का अपहरण भीख मंगवाने के लिए किया गया था। जामिया नगर के बटला हाउस की आसिया खातून ने 3 अक्टूबर को अपनी डेढ़ साल की बेटी के अपहरण की रिपोर्ट दी थी। उसने बताया कि 2 अक्टूबर की शाम करीब 6 बजे, उसकी बेटी सड़क पर कुछ बच्चों के साथ खेलते हुए लापता हो गई थी। पुलिस उपायुक्त (अपराध) मोनिका भारद्वाज ने बताया कि बच्चा मंगलवार को मोहम्मद अली और जहानारा के साथ जामिया नगर में जोगाबाई एक्सटेंशन में पाया गया था। डीसीपी ने कहा पूछताछ के दौरान दंपत्ति ने कहा कि बच्चे से भीख मंगवाने के लिए अपहरण कर लिया है। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा की मानव-तस्करी विरोधी इकाई ने साल 2020 में लापता या अपहृत 1,004 लोगों को बचाया है। इनमें से 102 नाबालिग लड़के थे। और 107 नाबालिग लड़कियां थीं।                


भारत ने चीन को फिर दिया बड़ा झटका

चीन को बड़ा झटका, मोदी सरकार ने उठाया ये कदम।


बीजिंग। सरकार ने रेफ्रिजरेंट्स के साथ आने वाले एयर कंडीशनर (एसी) के आयात पर पाबंदी लगा दी है। घरेलू मैन्युफक्चरिंग को बढ़ावा देने और गैर-जरूरी सामानों के आयात में कमी लाने के लिए यह कदम उठाया गया है। इससे चीनी कारोबारियों को बड़ा झटका लगेगा गौरतलब है। कि देश में एसी का बाजार करीब 40 हजार करोड़ रुपये का है। भारत अपनी एसी की जरूरत का करीब 28 फीसदी आयात चीन से करता है। कई मामलों में तो एसी के 85 से 100 फीसदी कम्पोनेंट आयात किए जाते हैं। विदेश व्यापार महानिदेशालय ने एक अधिसूचना में कहा, 'रेफ्रिजरेंट्स के साथ एयर कंडीशनर के आयात को लेकर नीति संशोधित की गई है। इसके तहत इसे मुक्त श्रेणी से हटाकर प्रतिबंधात्मक सूची में डाला गया है। स्प्लिट और विंडो या अन्य सभी तरह के एयरकंडीशनर के आयात पर रोक लगायी गई है। भारत में कई विदेशी कंपनियों ने अपने प्लांट लगा रखे हैं। उनके कारोबार पर इसका असर नहीं होगा। जुलाई महीने में भारत सरकार ने रंगीन टेलीविजन सेट के आयात पर बैन लगा दिया था। चीन से बड़े पैमाने पर कलर टीवी भारत मंगाए जाते थे। लेकिन सरकार ने उसपर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दिया है। जून में सरकार ने कार, बसों और मोटरसाइकिल में उपयोग होने वाले नये न्यूमैटिक टायर के आयात पर पाबंदी लगाई थी। गौरतलब है। कि सीमा पर चीनी सेनाओं की हरकतों के बाद देश में चीन के खिलाफ एक माहौल बन गया है। टिक टॉक, वी चैट समेत चीनी ऐप्स बंद करने का फैसला लिया गया। यही नहीं भारत में चीनी कंपनियों को मिले कई टेंडर कैंसिल कर दिए गए।                             


पुलिस ने आरोपी को भागने में की मदद

बलिया हत्याकांडः मृतक के भाई का गंभीर आरोप पुलिस ने आरोपी को भागने में की मदद।


संदीप मिश्र


बलिया। हत्याकांड पर मृतक के भाई ने वहां मौजूद पुलिसकर्मियों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। मृतक के भाई का कहना है। कि जब धीरेंद्र प्रताप और उसके लोग पत्थरबाजी और फायरिंग कर रहे थे। तो पुलिस उनको बचाने का प्रयास कर रही थी। और मृतक पक्ष के लोगों को पीटकर भगा रही थी। यही नहीं मृतक के भाई ने यह भी आरोप लगाया है। कि वारदात के बाद पुलिस ने हत्याकांड को अंजाम देने वाले आरोपी को पकड़ लिया था। लेकिन बाद में उसे भीड़ से बाहर ले जाकर छोड़ दिया। बता दें कि बलिया के रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में 15 अक्टूबर को दोपहर बाद पुलिस और जिला प्रशासन के आला अधिकारियों की मौजूदगी में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई. वारदात उस वक्त हुई जब कोटा की दुकान के लिए एसडीएम और सीओ की मौजूदगी में गांव में खुली बैठक चल रही थी। इस मामले का मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह है। जो अभी तक फरार है। धीरेंद्र प्रताप सिंह बलिया के बेरिया से बीजेपी के चर्चित विधायक सुरेंद्र सिंह का करीबी बताया जाता है। इस वारदात में गोली लगने से दुर्जनपुर पुरानी बस्ती निवासी 46 साल के जयप्रकाश उर्फ गामा पाल की इलाज के लिए ले जाते समय मौत हो गई। घटना में ईंट पत्थर और लाठी डंडे चलने से तीन महिलाओं सहित आधा दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। घायलों को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सोनबरसा भेजा गया है। जहां उनका इलाज चल रहा है। कोटे की दुकान पर हुई लड़ाई मृतक जयप्रकाश पाल के भाई तेजबिहारी पाल ने बताया कि कोटे की दुकान को लेकर दो प्रत्याशी लड़ रहे थे। और वह बाहर से आदमी लेकर आए और एसडीएम साहब ने कहा कि जो लोग यहां के हैं। वही यहां रहेंगे हम उनसे प्रमाण प्रूफ लेंगे, नहीं तो उसको लाइन से बाहर निकाल देंगे। जयप्रकाश पाल ने कहा कि प्रमाण पत्र मांगने पर कुछ लोग नाराज हो गए और एसडीएम से बहस करने लगे। आधा घंटा बाद लोग भागने लगे बलिया में फायरिंग के दौरान मची भगदड़ इसी दौरान धीरेंद्र प्रताप सिंह से जुड़े लोग ईंट पत्थर और गोली चलाने लगे उन्होंने कहा कि करीब करीब 15-20 फायर हुआ. उसमें एक बाहरी बदमाश है। उसे हम पहचानते नहीं हैं। एक अजय सिंह नाम का व्यक्ति फायर कर रहा था। पीड़ित का दावा है। कि धीरेन्द्र प्रताप हमारे भाई को गोली मार दिया आर्मी से रिटायर है। मुख्य आरोपी पुलिस के मुताबिक आरोपी धीरेन्द्र प्रताप सिंह आर्मी से रिटायर है। और विधायक सुरेंद्र सिंह के साथ में रहता है। जयप्रकाश पाल का आरोप है। कि वहां दस पुलिस के लोग थे। 2 महिला पुलिस भी थी। पुलिस आरोपियों को बचा रही थी। और हम लोगों को पीट रही थी। और जब आरोपी गोली मारकर भाग रहा था। तो पुलिस ने उसको पीछे से पकड़ लिया और उसके बाद बंधे पर ले जाकर छोड़ दिया और उसे वहां से भागने को कह दिया। आठ लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा पुलिस ने इस हत्याकांड में कुल आठ लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की एक दर्जन से ज्यादा टीमें लगाई गई हैं। देर रात डीआईजी सुभाष चंद्र दुबे ने भी मौका ए वारदात का जायजा लिया और मृतक के परिजनों से बातचीत की डीआईजी सुभाष चंद्र दुबे ने बताया कि इस घटना में 8 लोग नामित किए गए हैं। उसमें एक मुख्य हत्यारोपी है। जिसने फायर किया है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने इस घटना को चुनौती के रूप में लिया है। और इस मामले में पुलिस ऐसा एक्शन लेगी कि उदाहरण बन जाएगा एसडीएम, सीओ सस्पेंड सुभाष चंद्र दुबे ने घटना के समय जो लोग मौजूद थे। वह लोग भी निश्चित रूप से लापरवाही के दोषी माने जाएंगे उनके विरूद्ध कठोरतम अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी ताजा जानकारी के मुताबिक इस मामले में सरकार ने एसडीएम और सीओ को सस्पेंड कर दिया है। आरोपी का भागना स्थानीय पुलिस की लापरवाही-डीआईजी डीआईजी के मुताबिक दावा किया गया है। कि जिस हथियार की फायरिंग से शख्स की मौत हुई है। वह लाइसेंसी रिवॉल्वर थी। इसकी जांच आरोपी के पकड़े जाने और पिस्टल की रिकवरी के बाद ही हो पाएगी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी स्पष्ट हो जाएगा की गन शॉट की इंजरी किससे हुई है। सुभाष चंद्र दुबे ने कहा कि मृतक के भाई द्वारा बताया गया है। कि पुलिस ने आरोपी को पकड़ लिया था। इसके बाद भीड़ का फायदा उठाकर वह भाग गया। ये निश्चित रूप से पुलिस की लापरवाही है। और इस पर सख्त एक्शन होगा।           


प्रथम नवरात्र माता 'शैलपुत्री'

एक बार प्रजापति दक्ष ने एक बहुत बड़ा यज्ञ किया। इसमें उन्होंने सारे देवताओं को अपना-अपना यज्ञ-भाग प्राप्त करने के लिए निमंत्रित किया, किन्तु शंकरजी को उन्होंने इस यज्ञ में निमंत्रित नहीं किया। सती ने जब सुना कि उनके पिता एक अत्यंत विशाल यज्ञ का अनुष्ठान कर रहे हैं, तब वहाँ जाने के लिए उनका मन विकल हो उठा।


अपनी यह इच्छा उन्होंने शंकरजी को बताई। सारी बातों पर विचार करने के बाद उन्होंने कहा- प्रजापति दक्ष किसी कारणवश हमसे रुष्ट हैं। अपने यज्ञ में उन्होंने सारे देवताओं को निमंत्रित किया है। उनके यज्ञ-भाग भी उन्हें समर्पित किए हैं, किन्तु हमें जान-बूझकर नहीं बुलाया है। कोई सूचना तक नहीं भेजी है। ऐसी स्थिति में तुम्हारा वहाँ जाना किसी प्रकार भी श्रेयस्कर नहीं होगा।'


शंकरजी के इस उपदेश से सती का प्रबोध नहीं हुआ। पिता का यज्ञ देखने, वहाँ जाकर माता और बहनों से मिलने की उनकी व्यग्रता किसी प्रकार भी कम न हो सकी। उनका प्रबल आग्रह देखकर भगवान शंकरजी ने उन्हें वहाँ जाने की अनुमति दे दी।


सती ने पिता के घर पहुँचकर देखा कि कोई भी उनसे आदर और प्रेम के साथ बातचीत नहीं कर रहा है। सारे लोग मुँह फेरे हुए हैं। केवल उनकी माता ने स्नेह से उन्हें गले लगाया। बहनों की बातों में व्यंग्य और उपहास के भाव भरे हुए थे।


परिजनों के इस व्यवहार से उनके मन को बहुत क्लेश पहुँचा। उन्होंने यह भी देखा कि वहाँ चतुर्दिक भगवान शंकरजी के प्रति तिरस्कार का भाव भरा हुआ है। दक्ष ने उनके प्रति कुछ अपमानजनक वचन भी कहे। यह सब देखकर सती का हृदय क्षोभ, ग्लानि और क्रोध से संतप्त हो उठा। उन्होंने सोचा भगवान शंकरजी की बात न मान, यहाँ आकर मैंने बहुत बड़ी गलती की है।


वे अपने पति भगवान शंकर के इस अपमान को सह न सकीं। उन्होंने अपने उस रूप को तत्क्षण वहीं योगाग्नि द्वारा जलाकर भस्म कर दिया। वज्रपात के समान इस दारुण-दुःखद घटना को सुनकर शंकरजी ने क्रुद्ध होअपने गणों को भेजकर दक्ष के उस यज्ञ का पूर्णतः विध्वंस करा दिया।


सती ने योगाग्नि द्वारा अपने शरीर को भस्म कर अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया। इस बार वे 'शैलपुत्री' नाम से विख्यात हुर्ईं। पार्वती, हैमवती भी उन्हीं के नाम हैं। उपनिषद् की एक कथा के अनुसार इन्हीं ने हैमवती स्वरूप से देवताओं का गर्व-भंजन किया था।                   


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)













 अक्टूबर 17, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-62 (साल-02)
2.शनिवार, अक्टूबर 17, 2020
3. शक-1949, अश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि- प्रतिपदा, नवरात्रि प्रारंभ, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 60:05, सूर्यास्त 06:25।


5. न्‍यूनतम तापमान 21+ डी.सै.,अधिकतम-33+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेंगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275                                


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                                                  














दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...