त्यौहार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
त्यौहार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 27 मार्च 2021

रंगों का और हंसी-खुशी का त्योहार है 'होली'

होली रंगों का और हँसी-खुशी का त्योहार है। यह भारत का एक प्रमुख और प्रसिद्ध त्योहार है। जो आज विश्वभर में मनाया जाने लगा है। रंगों का त्यौहार कहा जाने वाला यह पर्व पारंपरिक रूप से दो दिन मनाया जाता है। यह प्रमुखता से भारत तथा नेपाल में मनाया जाता है। यह त्यौहार कई अन्य देशों जिनमें अल्पसंख्यक हिन्दू लोग रहते हैं। वहाँ भी धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। पहले दिन को होलिका जलायी जाती है। जिसे होलिका दहन भी कहते हैं। दूसरे दिन, जिसे प्रमुखतः धुलेंडी व धुरड्डी, धुरखेल या धूलिवंदन इसके अन्य नाम हैं। लोग एक दूसरे पर रंग, अबीर-गुलाल इत्यादि फेंकते हैं। ढोल बजा कर होली के गीत गाये जाते हैं और घर-घर जा कर लोगों को रंग लगाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि होली के दिन लोग पुरानी कटुता को भूल कर गले मिलते हैं और फिर से दोस्त बन जाते हैं। एक दूसरे को रंगने और गाने-बजाने का दौर दोपहर तक चलता है। इसके बाद स्नान कर के विश्राम करने के बाद नए कपड़े पहन कर शाम को लोग एक दूसरे के घर मिलने जाते हैं। गले मिलते हैं और मिठाइयाँ खिलाते हैं।
राग-रंग का यह लोकप्रिय पर्व वसंत का संदेशवाहक भी है। राग अर्थात संगीत और रंग तो इसके प्रमुख अंग हैं ही पर इनको उत्कर्ष तक पहुँचाने वाली प्रकृति भी इस समय रंग-बिरंगे यौवन के साथ अपनी चरम अवस्था पर होती है। फाल्गुन माह में मनाए जाने के कारण इसे फाल्गुनी भी कहते हैं। होली का त्यौहार वसंत पंचमी से ही आरंभ हो जाता है। उसी दिन पहली बार गुलाल उड़ाया जाता है। इस दिन से फाग और धमार का गाना प्रारंभ हो जाता है। खेतों में सरसों खिल उठती है। बाग-बगीचों में फूलों की आकर्षक छटा छा जाती है। पेड़-पौधे, पशु-पक्षी और मनुष्य सब उल्लास से परिपूर्ण हो जाते हैं। खेतों में गेहूँ की बालियाँ इठलाने लगती हैं। बच्चे-बूढ़े सभी व्यक्ति सब कुछ संकोच और रूढ़ियाँ भूलकर ढोलक-झाँझ-मंजीरों की धुन के साथ नृत्य-संगीत व रंगों में डूब जाते हैं। चारों तरफ़ रंगों की फुहार फूट पड़ती है। जहाँ उनका स्वागत गुझिया,नमकीन व ठंडाई से किया जाता है। होली के दिन आम्र मंजरी तथा चंदन को मिलाकर खाने का बड़ा माहात्म्य है।



गुरुवार, 11 फ़रवरी 2021

वैलेंटाइन डे पर पार्टनर को भूलकर भी ना दें ये गिफ्ट्स

वैलेंटाइन डे पर पार्टनर को भूलकर भी ना दें ये गिफ्ट्स, वरना रिश्ते में आ सकती है। दरार

 वैलेंटाइन डे पर जानकारी के अभाव में कई बार कपल्‍स ऐसे तोहफे खरीद लेते हैं। जो रिश्‍ते की गरमाहट को खत्‍म कर सकते हैं। प्रेमी जोड़ों के लिए खास दिन ‘वैलेंटाइन डे’का इंतजार हर कपल्स को बेसब्री से होता है। पार्टनर इस दिन अपने प्यार के रिश्ते को और मजबूत बनाते हैं। ऐसे में इस खास मौके को खूबसूरत बनाने के लिए कई बार जाने अनजाने व्यक्ति कुछ ऐसे गिफ्ट्स का चुनाव कर लेता है। जो वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार व्यक्ति को अपने पार्टनर को नहीं देने चाहिए।
वास्‍तु शास्‍त्र की मानें तो कुछ ऐेसे तोहफे हैं। जो आपसी रिश्‍तों में दूरियां ला सकते हैं। वास्तु के अनुसार पार्टनर को कुछ चीजें गिफ्ट करने से आपके रिश्ते में दरार आ सकती है।
तो आइए जानते हैं कि वह कौन से गिफ्ट्स आइटम हैं। जिन्‍हें वैलेंटाइन डे के मौके पर कभी भी अपने पार्टनर को नहीं देना चाहिए।
डूबते हुए जहाज की फोटो...
वास्तु शास्त्र के अनुसार कभी भी पार्टनर को डूबते हुए जहाज की मूर्ति गिफ्ट नहीं देना चाहिए ना लेना चाहिए। इस तरह की मूर्ति या फोटो घर में रखना अशुभ फल देता है। ऐसा करने से उपहार लेना वाले व्यक्ति को आर्थिक नुकसान या फिर आर्थिक तरक्की में बाधा का सामना करना पड़ सकता है।
ब्‍लैक ड्रेस...
अगर आप अपने पार्टनर के जीवन को खुशहाल देखना चाहते हैं। तो कभी भी काले रंग वाले ड्रेस तोहफे में ना दें। ये कष्‍ट और पीड़ा के प्रतीक होते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार कभी भी उपहार में किसी व्यक्ति को काले वस्त्र नहीं देने चाहिए। अगर अनजानें में आपको इस रंग के कपड़े उपहार में मिलते हैं। तो यह दुख, कष्ट और दर्द का कारण बन सकती है।
जूते....पार्टनर को कभी भी जूते गिफ्ट नहीं करने चाहिए. आपको जानकर हैरानी हो सकती है। कि जूते उपहार में देना जुदाई का प्रतीक माना जाता है।
रुमाल... ज्यादातर ये बात सभी लोग जानते हैं। कि कभी भी किसी व्यक्ति को उपहार में रुमाल नहीं देना चाहिए। अगर आप इसका कारण नहीं जानते तो आपको बता दें कि उपहार में रुमाल देना दुख का कारण माना गया है। ऐसा करने से पति-पत्नी के बीच झगड़ा होने की संभावना बनी रहती है।
बहुत से लोग उपहार में घड़ी देते हैं। जबकि घड़ी उपहार में देना जीवन की प्रगति को रोकने समान माना गया है।

यूपी-गुजरात, एमपी के मुख्यमंत्रियों के इस्तीफे की मांग

अकांशु उपाध्याय              नई दिल्ली। कांग्रेस ने कोविड से मौत के आंकडे़ छुपाने का आरोप लगाते हुए भाजपा की प्रदेश सरकारों को आड़े हाथ लिया...