रविवार, 18 अगस्त 2019

बाढ़ और बारिश से कई राज्यों में 'त्राहिमाम'

 देशभर में बाढ़ और बारिश से 'त्राहिमाम'


नई दिल्‍ली। भारी बारिश से एक बार फिर देश के कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। हिमाचल, उत्तराखंड, केरल, राजस्थान, मध्यप्रदेश और आंध्र प्रदेश में जलप्रलय से आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। मौसम विभाग ने कई राज्यों में अगले 24 घंटों में भारी बारिश होने का अलर्ट जारी किया है। जिस कारण बाढ़ से प्रभावित लोगों के लिए राहत और बचाव कार्य भी प्रभावित हो रहा है। हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश से तबाही मच गई है। जानमाल का भारी नुकसान होने की खबर है। कई जगह बादल फटने की सूचना है। प्रदेश में आज भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। अब तक दस लोगों की मौत हो गई है दो लोग बह गए हैं। पूरे प्रदेश में कई सड़कें और पुल ध्वस्त हो गए हैं। चंबा के बंदला में दीवार गिरने से दादा-पोती की मौत हो गई। शिमला में भूस्खलन से चार लोग दब गए।


उत्तराखंड में शनिवार देर रात से हो रही बारिश ने जन-जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। पहाड़ों की रानी मसूरी में भी कैंपटी-यमुनोत्री मार्ग भारी भूस्खलन के बाद बंद हो गया है। शनिवार देर रात मोरी प्रखंड के आराकोट क्षेत्र में अतिवृष्टि से माकुड़ी, टिकोची, आराकोट एवं मौंडा गांव में भारी तबाही मच गई। वहीं टोंस नदी में उफान आ गया। आईटीबीपी, एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीमें बचाव और निकासी में लगी हुई हैं।पंजाब में बाढ़ के हालातों को देखते हुए 81 गांवों को तत्‍काल खाली कराने के आदेश दिए गए हैं। जालंधर के डिप्‍टी कमिश्‍नर वरिंदर कुमार शर्मा ने फिल्‍लौर, नाकोदर और शाहकोट के एसडीएम को निचले इलाके में बसे और बाढ़ से प्रभावित होने वाले 81 गांवों को तत्‍काल खाली कराने और लोगों को सुरक्षित स्‍थान पर पहुंचाने का आदेश जारी किया गया है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


यूनिवर्सल एक्सप्रेस


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


2019-8-19 • RNI.No.UPHIN/2014/57254
1.अंक-15 (साल-01)
2.सोमवार,19 अगस्‍त 2019
3.शक-1941,भादपद्र कृष्‍णपक्ष चतुर्थी,विक्रमी संवत 2076
4. सूर्योदय प्रातः 5:47,सूर्यास्त 7:07
5.न्‍यूनतम तापमान 27 डी.सै.,अधिकतम-33+ डी.सै., हवा में आद्रता रहेगी, बारिश की संभावना!
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा!
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजिटल संस्करण )प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार लोनी गाजियाबाद 201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी गाजियाबाद 201102
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क:- 935030275


डबल मर्डर में वंछित से मुठभेड़ ,गिरफ्तार

पुलिस मुठभेड़ में डबल मर्डर में वांछित व 25 हजार रु0 का ईनामी बदमाश अजय उर्फ अमरीश बावरिया (घायल) गिरफ्तार


कब्जे से 01 तमंचा 315 बोर मय 02 जिन्दा कारतूस व 03 खोखा कारतूस बरामद


गाजियाबाद। थाना ट्रोनिका सिटी पुलिस को मुखबीर द्वारा सूचना मिली कि थाना ट्रोनिकासिटी क्षेत्र में हुए डबल मर्डर का वाछिंत अभियुक्त अजय उर्फ अमरीश बावरिया किसी घटना को अंजाम देने के लिए अपने साथियों के साथ अंशलसिटी में है। इस सूचना पर तत्वरित कार्यवाही करते हुए थाना ट्रोनिकासिटी पुलिस द्वारा अंशलसिटी के पास बन्द पडे मकान पर पहुँचे। वहाँ पर बदमाश अजय उर्फ अमरीश व उसके अन्य 03 साथियो द्वारा भागते हुए पुलिस पार्टी पर जान से मारने की नियत से पुलिस पार्टी पर फायर किया गया। पुलिस पार्टी की जवाबी फायरिंग में बदमाश अजय उर्फ अमरीश बावरिया गोली लगने से घायल हो गया है। जिसको समय करीब 4:30 बजे गिरफ्तार कर उपचार हेतु  अस्पताल में भर्ती किया गया है। उक्त अभियुक्त के अन्य 3 साथी मौके से भागने मे सफल रहे, जिसकी तलाश जारी है।


गिरफ्तार अभियुक्त थाना ट्रोनिकासिटी पर पंजीकृत मु0अ0सं0- 495/19 धारा 457/302/307 भादवि में वाछिंत चल रहा था जिसकी गिरफ्तारी पर  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गाजियाबाद द्वारा 25 हजार रुपये का पुरुस्कार घोषित किया गया था। इसके अलावा गिरफ्तार अभियुक्त थाना कविननगर क्षेत्र मे हुई पुलिस मुठभेड में फरार था। जिसके  कब्जे से 01 तमंचा 315 बोर मय 02 जिन्दा कारतूस व 03 खोखा कारतूस बरामद हुए है। अभियुक्त के अन्य अपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।


नेताजी सुभाष चंद्र बोस को सच्ची श्रद्धांजलि

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद-लोनी। भाजपा नेता धर्मेंद्र त्यागी ने आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी की जयंती पर पौधारोपण कर दी नेताजी को सच्ची श्रद्धांजलि दी। भाजपा नेता धर्मेंद्र त्यागी ने कहा आपकी देशभक्ति साहस और विचारों ने सदैव देश को प्रेरित कियागया। स्वतंत्रता आंदोलन में आप के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। युगो-युगो तक याद रखेगा हिंदुस्तान, कुछ इंसान ऐसे होते हैं जो मरने के बाद भी हमारे बीच में अमर रहते हैं। जिन्हें आज दुनिया याद करती हैं। यूं तो दुनिया में जो आदमी आया है वह जाएगा ही इस दुनिया से, लेकिन उस मौत का कोई सानी नहीं होगा जिस पर देश फक्र करता हो। नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने एक नारा दिया था। 'तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा' आज हम सब उनको याद करते हुए उनकी पुण्यतिथि पर राजीव गार्डन 100 फुटा रोड पर 2 पौधे लगाकर पर्यावरण को समर्पित करते हैं। नेताजी सुभाष चंद्र बोस भी सोचते होंगे मैं कैसे हिंदुस्तान की कल्पना करता था और आज देश प्रदूषण, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, मोबलिंचिंग,और जातिवाद से देश लड़ रहा है। जब इन सब से मुक्ति मिलेगी तभी नेताजी सुभाष चंद्र बोस को सच्ची श्रद्धांजलि मानी जाएगी । इस मौके पर जाहिद अली, मोनू मुंडे, असरफ चौधरी,अलीजान, साबिर अली ,शिव कुमार वशिष्ठ, रवि शर्मा आदि लोग मौजूद रहे।


पुलिस से तंग आकर खुदकुशी: मोबलीचिंग

दलित हरीश जाटव की हत्या को मॉबलिंचिंग क्यों नहीं मानती राजस्थान की कांग्रेस सरकार। पहलू खां के मामले में कोर्ट के फैसले के बाद एसआईटी का गठन।

अलवर । भिवाड़ी के रत्तीराम जाटव के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया, रत्तीराम ने तीन दिन पहले पुलिस के रवैये से तंग आकर खुदकुशी कर ली थी, रत्तीराम का कहना रहा कि उसके बेटे हरीश को बदमाशों ने पीट पीट कर मार दिया, लेकिन पुलिस और प्रशासन मॉबलिंचिंग की धाराओं में मुकदमा दर्ज नहीं कर रही है। पुलिस और प्रशासन के रवैये से दु:खी होकर ही रत्तीराम ने मौत को गले लगा लिया। पिछले तीन दिन से रत्तीराम का शव रखा हुआ था। हरीश की बेवा रेखा जाटव भी न्याय के लिए अनशन पर बैठ गई। एक परिवार में दो दो मौत के बाद भी राजस्थान की कांग्रेस सरकार संवेदनशील नहीं दिखी। एक दलित युवक हरीश जाटव की हत्या पर ऐसा रवैया तो दूसरी ओर अलवर के ही पहलू खां के प्रकरण में एडीजे कोर्ट के फैसले के बाद दो बारा से जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि एडीजे कोर्ट के फैसले की अपील की जाएगी। मुख्यमंत्री ने पुलिस की जांच पर भी असंतोष व्यक्त किया। हालांकि पिछले आठ माह से राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार चल रही है। सवाल उठता है कि पुलिस जांच पर ऐतराज था तो सुनवाई के दौरान ही न्यायालय में आपत्ति दर्ज क्यों नहीं करवाई गई? मालूम हो कि अलवर का पहलू खां का प्रकरण भाजपा के  शासन में वर्ष 2017 में हुआ था, तब देशभर में चर्चा का विषय बना। आरोप लगे कि भाजपा शासित राज्यों में मुसलमानों पर अत्याचार हो रहे हैं। पहलू खां की हत्या पर दिल्ली के जंतर मंतर पर मोमबत्तियां भी जलाई गई। लेकिन अब उसी अलवर में जब दलित युवक की पीट पीट कर हत्या कर दी गई तो न मोमबत्तियां जल रही है और न ही कांग्रेस का कोई नेता बोल रहा है। इससे ज्यादा दु:खद बात और क्या हो सकती है कि पुलिस की रवैये से परेशान होकर पिता ने भी खुदकुशी कर ली। 14 अगस्त को जब पहलू खां के प्रकरण में आरोपियों को संदेह का लाभ देते हुए बरी किया गया तो कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी न्यायालय के फैसले को चौंकाने वाला बताया, लेकिन साथ ही मॉबलिंचिंग पर कानून बनाने के लिए अपनी पार्टी की सरकार की पीठ थपथपा दी। देखना होगा कि अब प्रियंका गांधी दलित युवक और उसके पिता की मौत पर कब प्रतिक्रिया व्यक्त करती हैं। सवाल यह भी कि जब सरकार ने मॉबलिंचिंग कानून बना दिया है तो फिर हरीश जाटव के मामले में उन धाराओं का उपयोग क्यों नहीं किया जा रहा। 
एस.पी.मित्तल


हुड्डा कांग्रेस से बगावत को तैयार

अब हरियणा में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा कांग्रेस से बगावत को तैयार। 
कांग्रेस भटक गई है। मैं मुख्यमंत्री बनूंगा और चार उपमुख्यमंत्री बनाऊंगा।

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने रोहतक में परिवर्तन रैली की। इस रैली में हुड्डा ने साफ कहा कि कांग्रेस भटक गई है और मैं आर पार की लड़ाई लडऩे के लिए तैयार हंू। लेकिन लड़ाई का फैसला मैं अकेला नहीं कर सकता। मैं चंडीगढ़ में जाकर एक कमेटी बनाऊंगा जो आगामी विधानसभा चुनाव की रणनीति पर निर्णय करेगी। इस कमेटी में मुझे समर्थन देने वाले सभी 13 विधायक शामिल होंगे। हुड्डा ने कहा कि मैं जो रणनीति बना रहा हंू उसके अंतर्गत मैं ही हरियाणा का मुख्यमंत्री बनूंगा। मेेरे मुख्यमंत्री बनने पर हरियाणा में चार उपमुख्यमंत्री बनाए जाएंगे। ये उपमुख्यमंत्री  पिछड़े, दलित, ब्राह्मण आदि वर्ग का होगा। मेरी ओर से खाती, लोहर जैसी जातियों के व्यक्तियों को उम्मीदवार बनाया जाएगा। हालांकि रैली में हुड्डा ने अलग पार्टी बनाने की घोषणा नहीं की, लेकिन कांग्रेस के नेतृत्व को साफ कर दिया है कि वे बगावत के लिए तैयार है। यदि कांग्रेस ने उन्हें मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं किया तो वे अलग पार्टी बनाकर हरियाणा में विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे। हुड्डा ने कहा कि मैंने देशहित कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने का समर्थन किया है, लेकिन इस मुद्दे पर मैं भाजपा को वोट बंटोरने नहीं दूंगा। हरियाणा के मतदाताओं को खुश करने के लिए हुड्डा ने अपना घोषणा पत्र भी जारी कर दिया। किसानों की कर्जमाफी, दो एकड़ भूमि के किसान को मुफ्त बिजली, कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग की सभी सुविधाएं, पुरानी पेंशन योजना लागू करने, फसल बीमा की किस्त सरकार के द्वारा जमा कराने, हर परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने, 75 प्रतिशत नौकरियां हरियाणा के लोगों को देने, वृद्धावस्था पेंशन पांच हजार रुपए करने, रोडवेज में महिलाओं को फ्री सफर की सुविधा जैसी घोषणाएं हुड्डा ने की। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के दौरान जिन ग्रेज्युऐट युवको को क्लास डी में नौकरी दी है, उन्हें मैं क्लास सी में पदोन्नत कर दूंगा। 
नहीं आए प्रदेश अध्यक्ष:
हुड्डा की परिवर्तन रैली में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर वरिष्ठ नेता किरण चौधरी आदि उपस्थित नहीं रहे, लेकिन कांग्रेस के विधायक करण दलाल ने साफ कहा कि कांग्रेस हुड्डा को नेतृत्व दे तो ठीक है, नहीं तो हुड्डा अलग दल बनाने के लिए स्वतंत्र हैं। रैली हुड्डा के पुत्र दीपेन्द्र हुड्डा ने भी कांग्रेस नेतृत्व को साफ साफ संकेत दे दिए। 
एस.पी.मित्तल


घाटी के कुछ इलाकों में था अलगाववाद

अब यह तो साफ हो गया कि कश्मीर घाटी के कुछ ही इलाकों में था अलगाववाद। 
पर महबूबा और उमर अब्दुल्ला जैसे नेताओं ने पूरे जम्मू कश्मीर को बंधक बना रखा था। 
पाकिस्तान से अब सिर्फ पीओके पर बात-रक्षा मंत्री।

कश्मीर घाटी के अधिकांश क्षेत्रों में हालात सामान्य रहे। 35 थाना क्षेत्रों से धारा 144 हटा ली गई तथा 100 टेलीफोन एक्सचेंज शुरू कर लैंड लाइन फोन सेवाएं चालू कर दी गई है। 19 अगस्त से घाटी में प्राइमरी स्कूल, सरकारी दफ्तर बैंक आदि भी खुल जाएंगे। एक ओर जहां कश्मीर घाटी में हालात सामान्य हो रहे हैं, वहीं अनुच्छेद 370 में बदलाव के बाद से जम्मू और लद्दाख में जश्न का माहौल है। इन दोनों क्षेत्रों में सभी पाबंदियां हटा ली गई हैं। जम्मू कश्मीर की जो ताजा तस्वीर सामने आई है उससे प्रतीत होता है कि घाटी में सीमित क्षेत्र में ही अलगाववाद था। लेकिन महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला जैसे नेताओं ने पूरे जम्मू कश्मीर को बंधक बना कर रखा हुआ था। मुसलमान तो जम्मू और लद्दाख में भी रहते है, लेकिन 370 में बदलाव से ऐसे मुसलमानों को कोई ऐतरात नहीं है। महबूबा और  उमर ने कहा था कि यदि अनुच्छेद 370 से छेड़छाड़ की गई तो जम्मू कश्मीर में आग लग जाएगी। केन्द्र सरकार ने न केवल 370 के प्रावधानों को हटाया, बल्कि लद्दाख को अलग कर जम्मू कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश बना दिया। इससे जम्मू और लद्दाख में जश्न का माहौल है। घाटी के कुछ इलाके अभी अलगाववाद के प्रभाव में हैं, लेकिन धीरे-धीरे यहां भी हालात सामान्य हो जाएंगे। अनुच्छेद 370 में बदलाव के बाद महबूबा और उमर की बाजी भी पलट गई है। पाकिस्तान के इशारे पर नाचने वाले आतंकी भी अब समझ गए हैं कि घाटी के हालात बिगाडऩा मुश्किल है। पाकिस्तान को भी अंतर्राष्ट्रीय मंच पर समर्थन नहीं मिल रहा है। यानि केन्द्र सरकार कश्मीर समस्या के समाधान में जी से आगे बढ़ रही है। जहां तक भारत की विपक्षी पार्टियों का सवाल है तो उनके चेहरे पर से भी नकाब उतर गई है। कांग्रेस और अन्य दलों को देश में भी समर्थन नहीं मिला है। कई मुस्लिम संगठनों ने केन्द्र सरकार के फैसले का समर्थन किया है। यानि कश्मीर के अलगाववादियों को अब अपने देश के मुसलमानों का भी समर्थन नहीं मिलेगा। 
अब पाकिस्तान से पीओके पर बात होगी-राजनाथ सिंह:
18 अगस्त को हरियाणा में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अब पाकिस्तान से बात तो होगी, लेकिन पाक अधिकृत कश्मीर पर। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 में बदलाव के बाद हमारे जम्मू कश्मीर को लेकर पाकिस्तान के साथ कोई विवाद नहीं रहा है। जम्मू कश्मीर पहले भी भारत का अभिन्न अंग था और आज भी है। 1947 में विलय के समय जम्मू कश्मीर की जो भौगोलिक स्थिति थी, उसे हमें वापस हासिल करना है। 
एस.पी.मित्‍तल


15 वर्ष बाद बीसलपुर बांध पानी से लबालब

अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री रहते पहली बार बीसलपुर बांध भरा। 
भाजपा की वसुंधरा राजे के शासन में चार बार बांध के गेट खुले। 

अशोक गहलोत राजस्थान में कांग्रेस की सरकार के तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हैं, लेकिन यह पहला अवसर है, जब प्रदेश का प्रमुख बीसलपुर बांध बरसात के पानी से लबालब है। बांध से प्रदेश की राजस्थानी जयपुर सहित अजमेर, टोंक और दौसा जिले के एक करोड़ लोगों की प्यास बुझाई जाती है। इसलिए इस बांध का राजनीतिक दृष्टि से खास महत्व है। अब अशोक गहलोत और उनके समर्थक भी खुश हो सकते हैं कि 18 अगस्त 2019 को बीसलपुर बांध भर गया है, क्योंकि गहलेत के 1998 से 2003 तथा 2008 से 2013 के कार्यकाल में बीसलपुर बांध कभी भी  नहीं भरा। जबकि भाजपा सरकार की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे के दस वर्ष के कार्यकाल में चार बार बीसलपुर बांध के गेट खोले गए। राजे पहली बार 2004 में मुख्यमंत्री बनी तब पांच वर्ष के कार्यकाल में वर्ष 2004 व 2006 में बीसलपुर बांध भरा। राजे का दूसरा कार्यकाल दिसम्बर 2013 से 2018 के बीच रहा, तब भी 2014 व 2016 में बांध के गेट खोले गए। यानि अशोक गहलोत के साढ़े दस वर्ष के शासन में यह पहला अवसर है, जब बांध भरा है। माना जा सकता है कि इस बार गहलोत पर ईश्वर की कृपा भी है। न केवल बीसलपुर बांध लबालब हुआ है, बल्कि प्रदेश भर में अच्छी वर्षा होने की वजह से अधिकांश बांध ओवर फ्लो हैं। इससे प्रदेश के किसान भी खुश है। बीलसुपर बांध से अब आगामी तीन वर्षों तक पेयजल की सप्लाई की जा सकती है। यदि इस वर्ष बांध से पानी का वितरण समान नजरिए से किया गया तो अगले वर्ष भी बांध भर सकता है। असल में बांध से अजमेर जिले में दो दिन में एक बार जबकि जयपुर को रोजाना पेयजल की सप्लाई होती है। अजमेर-जयपुर के बीच इस भेदभाव को समाप्त किया जाना चाहिए। अब जब गहलोत पर इन्द्र देवता की कृपा हो गई है तो उन्हें स्वयं भेदभाव के समाप्त करना चाहिए। यहां यह खास उल्लेखनीय है कि वसुंधरा राजे अपने शासन में मानसून के दौरान सावन माह में प्रदेश के प्रमुख शिव मंदिरों में सरकारी खर्चें से रुद्राभिषेक और धार्मिक अनुष्ठान करवाती थी, लेकिन गहलोत सरकार ऐसे आयोजनों से परहेज करती है, इसलिए इस बार सावन माह में सरकारी खर्चे पर धार्मिक आयोजन नहीं हुए। 
एस.पी.मित्तल


धावक हिमा दास ने जीता स्वर्ण पदक

चेक। भारत के शीर्ष फर्राटा धावकों हिमा दास और मो.अनस ने चेक गणराज्य में एथलेटिकी मिटिनेक रीटर स्पर्धा में क्रमश: पुरुष और महिला 300 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीते। दो जुलाई से यूरोपीय स्पर्धाओं में यह हिमा का छठा स्वर्ण पदक है। इस स्पर्धा में हालांकि अधिकांश बड़े नामों ने हिस्सा नहीं लिया। हिमा ने शनिवार को स्वर्ण पदक जीतने के बाद ट्वीट किया, 'चेक गणराज्य में आज एथलेटिकी मिटिनेक रीटर 2019 में 300 मीटर स्पर्धा में शीर्ष पर रही।' दूसरी तरफ अनस ने पुरुष 300 मीटर दौड़ 32.41 सेकेंड के समय के साथ जीती। उन्होंने ट्वीट किया, 'चेक गणराज्य में एथलेटिकी मिटिनेक रीटर 2019 में पुरुष 300 मीटर का स्वर्ण पदक 32 .41 सेकेंड के समय के साथ जीतने की खुशी है।'


पाक से केवल 'पीओके' पर बात होगी:राजनाथ

राणा ओबराय


चडींगढ। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बड़ा बयान दिया है, राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा-  'अब पाक से केवल पीओके पर बात होगी।पीओके के अलावा किसी मुद्दे पर बातचीत नहीं होगी। अमेरिका ने पाकिस्तान को फटकार लगाई, आतंकवाद के जरिए भारत को कमजोर करना चाहता है पाक। केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर के विकास को लेकर प्रतिबद्ध।


प्रधानमंत्री मोदीजी का संकल्प है 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का है । लेकिन जिस तरीके से मनोहरलाल जी काम कर रहे हैं, मुझे लगता है 2021 तक हरियाणा में किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी। किसानों से अपील है कि रासायनिक खाद की मात्रा धीरे-घीरे कम करें और आर्गेनिक खेती की ओर बढ़े: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
भारतीय जनता पार्टी केवल सरकार बनाने के लिए नहीं बल्कि देश बनाने के लिए राजनीति करती है। मोदीजी के नेतृत्व में धारा 370 और 35A को खत्म कर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के विकास और वहां के युवाओं के भविष्य को ध्यान में रखते हुए उन्हें विकास की मुख्यधारा में शामिल किया गया है।


यूपी पंचायत चुनाव आरक्षण को हरी-झंडी

पंचायत चुनाव आरक्षण प्रक्रिया को शासन से हरी झंडी।
लखनऊ । पंचायत चुनाव की दिशा में एक कदम बढ़ाते हुए पंचायतीराज विभाग ने मंगलवार को आरक्षण प्रक्रिया को हरी झंडी दे दी है। अब जिलों में सीटवार आरक्षण का प्रस्ताव सार्वजनिक होगा। डॉ रंजीत सिन्हा सचिव पंचायतीराज विभाग ने मंगलवार को जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष,ब्लॉक प्रमुख,और ग्राम प्रधान के पदों का बंटवारा जातीय आरक्षण के अनुसार तय कर दिया है। मुख्यमंत्री से अनुमति लेने के बाद मंगलवार शाम को सचिव पंचायतीराज विभाग ने सभी जिलों को संबांधित शासनादेश जारी किया। अब यह संख्या स्पष्ट हो गई है कि किस जिले में ब्लॉक प्रमुख,ग्राम प्रधान के कितने पद किस वर्ग के खाते में आ रहे हैं। अब इस आधार पर जिलों में आरक्षित सीटों का चयन होगा तय कार्यक्रम के मुताबिक अब सभी जिलों को 17 अगस्त तक सीट वार आरक्षण तय करते हुए सार्वजनिक कर दिया है। 24 अगस्त को आपत्‍ति आदि के निस्तारण के बाद आरक्षण की सूची  जारी कर दी जाएगी।
जिला पंचायत अध्यक्ष पद का आरक्षण दूसरे चरण में घोषित होगा इसी के साथ पंचायतीराज निदेशालय ने जिलावार जिला पंचायत और बीडीसी सदस्यों के पदों का बंटवारा भी इसी क्रम में कर दिया है। अब जिलों में सीटवार आरक्षण का प्रस्ताव सार्वजनिक हो सकेगा। दो बच्चों की शर्त पर बढ़ी उलझन: इधर, चुनाव से पूर्व पंचायती राज ऐक्ट को लेकर अध्यादेश लाने की तैयारी कर रही सरकार की उलझनें कम होने का नाम नहीं ले रही हैंं। दरअसल सरकार सहकारी समितियों के सदस्यों को चुनाव लड़ने की छूट देने के लिए अध्यादेश ला रही है। इसलिए एक राय यह भी उभर रही है कि प्रस्तावित अध्यादेश में दो बच्चों की शर्त के लिए भी समय सीमा तय कर दी जाए,ताकि मामला कोर्ट में टिक सके। सूत्रों के अनुसार शीर्ष स्तर पर इसको लेकर नए सिरे से मंथन प्रारंभ हो गया है। इस बारे में जो भी निर्णय होगा,वो 21 अगस्त से पहले लिए जाने की उम्मीद है।
19- 20 अगस्त डीएम कार्यालय, ब्लॉक में दे सकेंगे आपत्ति
21 -22 डीएम स्तर पर होगा आपत्तियों का निस्तारण
24 अगस्त अंतिम आरक्षण घोषित हो जाएगा
पदवार आरक्षण की स्थिति
जिला पंचायत अध्यक्ष 
एसटी- 00, एससी - 02 (01 महिला),ओबीसी - 01 ( महिला)
ब्लॉक प्रमुख
एसटी-03 (02 महिला),एससी- 18 (09 महिला),ओबीसी 13(07 महिला)
प्रधान
एसटी-248, एससी-1743, ओबीसी- 879 
मंगलवार को आरक्षण का शासनादेश विधिवत जारी कर दिया गया है। अब जिलों में आरक्षण की प्रारंभिक अधिसूचना जारी होगी,जिस पर आपत्ति लेने और फिर विधिवत सुनवाई के बाद आरक्षण की अंतिम अधिसूचना जारी होगी।


लाखों रेल यात्रियों को पहुंचेगा फायदा:गोयल

पीयूष गोयल का बड़ा ऐलान, लाखों रेल यात्रियों को होगा फायदा


नई दिल्ली । देश के व्यस्तम मार्गों में से एक दिल्ली-हावड़ा के बीच में नया रेलमार्ग बनाया जायेगा। इस रूट पर ट्रेन 160 किमी प्रति घंटे की स्पीड से चलेगी। इससे दिल्ली से कोलकाता तक का सफर मात्र 12 घंटे में तय होगा। इस से रेललाइन दिल्ली, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड को फायदा होगा। केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को ट्वीट कर ये जानकरी दी है।


पीयूष गोयल ने ट्वीट किया, 'देश के व्यस्ततम मार्गों में से एक दिल्ली-हावड़ा के बीच में नया रेलमार्ग बनाया जायेगा। जिस पर ट्रेन 160 किमी/ घंटा की गति से चलेगी, तथा दिल्ली से कोलकाता तक का सफर मात्र 12 घंटे में तय होगा यह रेललाइन दिल्ली, पश्चिम बेंगॉल, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड के लिये वरदान साबित होगी।'दिल्ली से हावड़ा जंक्शन के बीच की दूरी 1525 किलोमीटर है और फिलहाल ये दूरी तय करने में 17 घंटे का समय लगता है। इस रूट में ट्रेन पांच राज्यों- दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल से होते हुए गुजरेगी, जिसमें बीच में कानपुर और लखनऊ रूट भी शामिल होंगे।हाल ही में दिल्ली-हावड़ा रूट पर 160 किलोमीटर की रफ्तार से परिचालन की मंजूरी मिली है। इस प्रस्ताव के लिए दिल्ली-हावड़ा मार्ग पर आने वाले खर्च के लिए 6,685 करोड़ रुपये का मंजूर किये गये हैं। परियोजना के वर्ष 2022-23 तक पूरी होने की उम्मीद है। यह प्रस्ताव केंद्र की नयी सरकार बनने के बाद रेलवे मंत्रालय के 100 दिनों के एजेंडे का हिस्सा है। इस फैसले से ट्रेन की रफ्तार में वृद्धि से सेवा और सुरक्षा में सुधार आयेगा एवं क्षमता बढ़ेगी।


ईडी ने जब्त की 261 करोड़ की संपत्ति

पोंजी स्कीम से लाखों के साथ की थी ठगी, ईडी ने जब्त की 261 करोड़ की प्रॉपर्टी


नई दिल्ली । प्रवर्तन निदेशालय ने एक पोंजी स्कीम चलाने वाली कंपनी के दो डायरेक्टर और उनके परिजनों की 261 करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी कुर्क कर ली है। यह कार्रवाई प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉड्रिंग एक्ट, 2002 के तहत की गई है। ईडी के मुताबिक इस प्रॉपर्टी के तहत आवासीय प्लॉट, कृषि भूमि, आलीशान मकान शामिल हैं।इस मामले में आरोपी मेसर्स फ्यूचर लाइफ केयर प्राइवेट लिमिटेड के दो निदेशक राधेश्याम और बंसीलाल हैं। यह संपत्त‍ियां हिसार, आदमपुर, कुलाम, दिल्ली और चंडीगढ़ में हैं। इसके अलावा कंपनी के उक्त अधिकारियों और उनके सहयोगियों के बैंक खातों में जमा रकम भी जब्त कर ली गई है।


गौरतलब है कि तेलंगाना राज्य पुलिस ने मेसर्स फ्यूचर मेकर लाइफ केयर प्राइवेट लिमिटेड और उसके निदेशकों के खिलाफ आम जनता से धोखाधड़ी करने के लिए एफआईआर दर्ज किया था। इस एफआईआर के आधार पर ही प्रवर्तन निदेशालय ने PMLA के तहत जांच शुरू की है।कंपनी ने भोले-भाले लोगों को मल्टी लेवल मार्केटिंग के नाम पर अपने पोंजी पिरामिड स्कीम का सदस्य बनाया था और उन्हें हर महीने 20 हजार से लेकर 10 लाख रुपये तक कमाने का लालच दिया गया था। इस स्कीम के तहत लोगों को सिर्फ सूट लेंथ या खाने-पीने के सामान बेचने के लिए कहा जाता था। प्रवर्तन निदेशालय ने बताया, 'उन्होंने अपने कमीशन मॉडल का जमकर प्रचार किया जिसके तहत नए सदस्य बनाने पर जमकर कमीशन दिया जाता था। ईडी का दावा है कि मनी लॉन्ड्र‍िंग मामले की जांच के दौरान यह खुलासा हुआ कि स्कीम के सब्सक्राइबर्स से जालसाजी करके फंड लिया गया और इस फंड को निदेशकों, उनके परिजनों और अन्य सहयोगियों के निजी खातों में ट्रांसफर कर दिया।


एयरपोर्ट से खालिस्तान समर्थक महिला गिरफ्तार

दिल्ली एयरपोर्ट से खालिस्तान समर्थक महिला गिरफ्तार, एसएफजे से हैं संबंध


नई दिल्ली । दिल्ली हवाई अड्डे से एक महिला को कथित तौर पर खालिस्तान समर्थक समूह के साथ संपर्क होने की वजह से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। मलेशिया से यहां पहुंचने पर आव्रजन अधिकारियों ने गुरुवार को आईजीआई हवाईअड्डे पर कुलबीर कौर को हिरासत में लिया था। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को उसे पंजाब पुलिस को सौंप दिया गया था। कुलबीर कौर अमेरिका स्थित खालिस्तान समर्थक समूह- सिख्स फॉर जस्टिस(एसएफजे)- के साथ कथित संबंधों को लेकर वांछित थी। पुलिस ने कहा कि यह संगठन अपने अलगाववादी एजेंडे के तहत 'रिफरेंडम 2020' के लिये दबाव बना रहा है।


बटाला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ओ एस घूमन ने कहा कि कौर के खिलाफ कथित तौर पर बेरोजगार युवकों को कट्टरपंथ की राह पर झोंककर पंजाब में गड़बड़ी पैदा करने की साजिश के सिलसिले में लुकआउट नोटिस जारी किया गया था। पुलिस ने कहा कि कौर 2008 में बरनाला से मलेशिया चली गई थी और एसएफजे की सक्रिय सदस्यों में से एक थी। उन्होंने कहा कि उसे शुक्रवार को एक स्थानीय अदालत के समक्ष पेश किया गया जिसने उसे छह दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया।


व्यापारी को गोली मारने वाले गिरफ्तार

सीतापुर-सिधौली।  बीते दिनों अटरिया कस्बे में सुमित्रा ट्रेडर्स के संचालक व प्रधान पर  बाइक सवारों द्वारा ताबड़तोड़ गोलियां मारे जाने व अटरिया के एक व्यवसाई  से रंगदारी मांगे जाने के मामले का अटरिया पुलिस ने आवरण कर दिया। अटरिया पुलिस ने उक्त मामलों में 5 लोगो को गिरिफ्तार कर पूरे मामले का खुलासा किया।


गत तीस जुलाई को अटरिया कस्बे मे स्थित सुमित्रा ट्रेडर्स के संचालक नंद राम यादव को अज्ञात बदमासो ने दुकान बंद करते समय ताबडतोड़ गोलियां मारी थी और फरार हो गए थे। नन्दरम यादव का आज भी लखनऊ के अस्पताल में इलाज चल रहा है। यह मामला अभी शांत ही नही हुआ था। तभी अटरिया में ही एक कोल्डड्रिंक व्यवसाई से फोन पर अज्ञात बदमाशों ने 5 लाख रुपये की रंगदारी मांग ली। पूरे मामले ने जमकर तूल पकड़ा और उक्त दोनों मामलों में पुलिस की लचर कार्यवाही से काफी किरकिरी हुई थी।  पुलिस अधीक्षक सहित सभी उच्च अधिकारी इस मामले में खुलासे को लेकर परेशान थे। जिसके कारण मामले मे क्राइम ब्रांच व अटरिया पुलिस को लगाया। क्राइम ब्रांच की टीम ने अपने सोर्स से अंकित रावत उर्फ शांतनु पुत्र नन्हे प्रसाद   निवासी डालीगंज रेलवे क्रासिंग लखनऊ,आरुष अरोड़ा उर्फ लव पुत्र स्व.दिनेश अरोड़ा खासराजा सगड़ी थाना जीयन पुर जिला आजमगढ़, ऋषि पुत्र पदमाकर यादव निवासी ग्राम मंझी थाना माल जिला लखनऊ, पवनकुमार यादव पुत्र कौशल कुमार सिंह खरतोहल मजरा सनियाँवा थाना अटरिया राजेश यादव पुत्र भगवान दीन निवासी कासीपुर थाना सिधौली जिला सीतापुर को गिरिफ्तार कर लिया है।


एक ही परिवार के पांच लोगो को मारी गोली

रामगढ़-बरकाकाना । बरकाकाना रेलवे कॉलोनी में रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के  जवान पवन कुमार सिंह ने रेलवे पोर्टर अशोक राम के घर में घुस कर परिवार के पांच लोगों को गोली मार दी। घटना शनिवार रात लगभग सवा आठ बजे की है। गोली लगने से अशोक राम, उनकी पत्नी लीला देवी व गर्भवती बेटी मीना देवी की मौत हो गयी। जबकि बेटी सुमन देवी और बेटा संजय राम गंभीर रूप से घायल हो गये। हमले में अशोक राम की छोटी बेटी रजनी बाल-बाल बच गयी। घटना को अंजाम देने के बाद पवन सिंह पिस्टल लहराते  हुए भाग निकला। वहीं, फायरिंग की आवाज सुन कर आसपास के लोग अशोक राम के घर पहुंचे और सभी को रेलवे अस्पताल ले गये।
 वहां इलाज के क्रम में अशोक राम की मौत हो गयी। वहीं, घायल भाई-बहनों को रांची रोड स्थित द होप अस्पताल ले जाया गया, वहां से रांची रेफर किया गया। रांची ले जाने के क्रम में गर्भवती मीना देवी की भी माैत हो गयी। घायल बेटी सुमन देवी और बेटा संजय राम को मेदांता में भर्ती कराया गया है। पवन को दो दिन पहले ही विभाग की ओर से पिस्टल मिला था। उधर, गोलीबारी की सूचना पर एसपी प्रभात कुमार भी घटनास्थल पर पहुंचे। 


दूध लेने के क्रम में हुआ विवाद : अशोक राम के परिवार में सात सदस्य हैं। बड़ा बेटा रमेश ऑटो चालक है। घटना के समय वह बरकाकाना रेलवे स्टेशन पर था
हमले में बची रजनी उर्फ प्रियंका ने पुलिस को बताया कि उसके घर के सामने ही पवन कुमार सिंह रहता है और उसी के यहां से दूध लेने आता था। शनिवार रात में भी पवन दूध लेने आया। इसी दौरान पिता अशोक राम से उसकी बकझक हो गयी। तब पिता ने दूध देने से इनकार कर दिया। इसके बाद पवन ने पिस्टल निकाल कर पिता, मां, दो बहनों और भाई को गोली मार दी। गोली लगने से मां लीला देवी की घर में ही मौत हो गयी।


विदेश भेजने के नाम पर डेढ़ लाख की ठगी

सऊदी अरब भेजने के नाम पर कारीगर से डेढ़ लाख की ठगी। 


मुरादाबाद। शातिर ठग ने सऊदी अरब भेजने के नाम पर एक कारीगर से 2 लाख रुपये की ठगी कर डाली। पीड़ित की तहरीर पर थाना पुलिस ने सम्भल के युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर दी है। थाना मझोला क्षेत्र के दिल्ली रोड गागन नया गांव निवासी शाहिद हुसैन की तहरीर पर सिविल लाइंस पुलिस ने संभल के नखासा दीपा सराय निवासी रियाज जमाल उर्फ पप्पू के खिलाफ धोखाधड़ी व धमकी देने का मुकदमा दर्ज किया है। शाहिद हुसैन के अनुसार वह वेल्डिंग का काम करता है। बताया कि उसकी मुलाकात रियाज से हुई तो उसने बताया कि वह लोगों को सऊदी समेत अन्य देशों में भेजने का काम करता है। आरोपी ने शाहिद को सऊदी में मैकेनिक का काम दिलाने का झांसा दिया और इसके लिए डेढ़ लाख रुपये मांगे। अक्तूबर 2018 को मुम्बई में बुलाकर पचास हजार रुपये लेकर एक एग्रीमेंट पर साइन करा लिया। बाद में कहा कि तुम्हे सऊदी में सफाईकर्मी के रूप में काम करना होगा। आरोपी ने शाहिद का पासपोर्ट भी रख लिया। किसी तरह वह मुम्बई से भाग कर अपने घर लौटा। यहां पुलिस में शिकातय किया, लेकिन पुलिस मुकदमा दर्ज करने मं टालमटोल करने लगे। बाद में आईजी के समक्ष पेश होकर शाहिद ने शिकायत की। आईजी के आदेश पर मझोला पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। एसएचओ अजय कुमार गौतम ने बताया कि प्रकरण की जांच की जा रही है।


सोनिया के अध्यक्ष बनने से समीकरण बदले

नई दिल्‍ली। सोनिया गांधी के फिर से कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार के कयास फिर शुरू हो गए हैं। राहत की बात यह है कि अभी मंत्रिमंडल में शामिल किसी भी मंत्री को नहीं हटाया जाएगा और खाली पड़े पदों में ही नए को समाहित किया जाएगा। अब तक राहुल गांधी को ध्यान में रखकर मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने वाले विधायकों के नाम तय हो रहे थे अब उसमें सोनिया गांधी का रुख महत्वपूर्ण हो गया है। इसके अलावा उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही प्रदेश के नए कांग्रेस अध्यक्ष का नाम तय हो जाएगा। मुख्मयंत्री कमलनाथ ने सोनिया के अध्यक्ष बनते ही मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर कसरत नए सिरे से शुरू कर दी है। पहले यह भी चर्चा है कि मुख्यमंत्री अपने मंत्रिमंडल का विस्तार नया प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद कर सकते हैं। यह भी लगभग तय कर लिया गया है कि विस्तार में खाली पदों को भरा जाएगा और किसी भी मंत्री को फिलहाल हटाया नहीं जाएगा।
ये बन सकते हैं मंत्री
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर जो कवायद की है, उसमें जयस से आए हीरालाल अलावा के अलावा कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ विधायकों के नामों पर भी विचार किया जा रहा है। इन विधायकों में केपी ङ्क्षसह, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव जैसे नाम शामिल हैं। मंत्रिमंडल गठन के समय ही ये नाराज हो गए थे। भाजपा के दो विधायकों को कांग्रेस के पाले में लाने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ अपनी सरकार को स्थिर करने में सफल रहे हैं। सरकार गिराने को लेकर भाजपा नेताओं की बयानबाजी भी बंद हो गई है। बावजूद इसके मंत्रिमंडल विस्तार में मुख्यमंत्री का टारगेट इस बात पर ही रहेगा कि सरकार को पांच साल के लिए स्थिर रखा जाए। इसलिए विस्तार में उन विधायकों को ही ज्यादा तवज्जो मिलने वाली है जिसके समर्थन पर सरकार टिकी है। इनमें एक निर्दलीय, एक बसपा एवं एक भाजपा से आए विधायक का मंत्री बनना तय माना जा रहा है। इनके मंत्री बनते ही सरकार के सामने बहुमत का कोई संकट नहीं रहेगा।
बावरिया से नाथ ने की बात, जल्द बन सकती है सहमति
पार्टी सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ मंत्रिमंडल विस्तार पर कसरत पूरी करने के बाद पार्टी नेतृत्व से अनुमोदन कराने की कोशिश नए सिरे से करेंगे। उन्होंने कांग्रेस महासचिव व पार्टी के प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया से इस संदर्भ में बात की है। कमलनाथ जब अगली बार दिल्ली आएंगे तो पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ राहुल गांधी से भी मुलाकात कर मंत्रिमंडल विस्तार के संबंध में चर्चा करेंगे। पर पार्टी सूत्रों का कहना है कि मंत्रिमंडल विस्तार के लिए नए प्रदेश अध्यक्ष को नियुक्ति का इंतजार किया जा सकता है।


कैमरे की जद में,ऑनलाइन चैक होगी कापी

ऑनलाइन चैक होगी कॉपी, हर तीन मिनट में टीचर की फोटो क्लिक करेगा वेबकैम


भरतपुर। द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टेर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया ने स्टूडेंट्स की एग्जाम शीट चैकिंग के पैटर्न में बदलाव किया है। पिछले काफी समय से सीए इंस्टीट्यूट को मिल रही शिकायतों के बाद कॉपी चैक होने का पूरा प्रोसेस ऑनलाइन कर दिया गया है। आइसीएआइ जयपुर चैप्टर के चेयरमैन सीए लोकेश कासट ने बताया कि नई व्यवस्था के बाद जिस टीचर को कॉपी चैक करने का असाइनमेंट मिला है, वहीं आंसर शीट चैक कर सकेगा। साथ ही इसकी पूरी ऑनलाइन मॉनिटरिंग भी की जाएगी।


रोल नंबर की जगह जनरेट होगा यूनीक कोड
एग्जाम के बाद आंसर शीट से रोल नंबर हटाकर एक यूनीक कोड लिखा जाएगा। इसके बाद कॉपी को स्कैन कर चैक होने के लिए संबंधित टीचर्स को फॉरवर्ड किया जाएगा। ये कॉपी इंस्टीट्यूट के सिक्योर्ड पोर्टल पर ही ओपन हो सकेंगी और इसके लिए टीचर को एक हाई सिक्योर्ड यूजर आइडी और पासवर्ड भी दिया जाएगा। बिना आइडी पासवर्ड के कॉपी एक्सेस ही नहीं कर पाएंगे।


ऐसे काम करेगा सॉफ्टवेयर
ऑनलाइन पोर्टल पर आंसर शीट ओपन करने के साथ ही हर तीन से पांच मिनट में कम्प्यूटर पर लगा वेब कैमरा कॉपी चैक करने वाले टीचर की फोटो क्लिक करता रहेगा। फोटो पोर्टल पर अपडेट होती रहेगी। इससे कोई और व्यक्ति कॉपी चैक नहीं कर सकेगा। साथ ही सॉफ्टवेयर से हर क्वेश्चन को चैक करने में लगे टाइम और पूरी कॉपी को चैक होने में लगे वक्त का भी पूरा डेटाबेस तैयार होगा। आसंर शीट चैक होने के बाद यूनीक कोड की जगह फिर से रोल नंबर लगाकर रिजल्ट जारी किया जाएगा। कॉपी चैक करने के लिए इंटरेस्टेड टीचर्स को आइसीएआइ के रीजनल चैप्टर में अप्लाई करना होगा। सीए इंस्टीट्यूट की ओर से टीचर्स को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा और उन्हें कॉपी चैक करने संबंधी पूरे प्रोसेस की तीन दिन की ट्रेनिंग दी जाएगी।आइसीएआइ के इस इनिशिएटिव से स्टूडेंट्स को फायदा होगा। आंसर शीट चैक होने में और अधिक ट्रांसपेरेंसी से रिजल्ट भी इम्प्रूव होगा।


सीए लोकेश कासट, चेयरमैन, आइसीएआइ जयपुर चैप्टर


आंसर शीट चैक होने का प्रोसेस हाई सिक्योर और ऑनलाइन होने से कॉपी अब एक्सपर्ट ही चैक कर सकेंगे। फेयर मार्किंग स्कीम की डिमांड कर रहे स्टूडेंट्स की ये पहली जीत है।


शिक्षकों के तबादले के आदेश लिए वापस

शिक्षकों के तबादले, मामला बढ़ा तो वापस लिए आदेश


बाड़मेर। जिला शिक्षा अधिकारी मुख्यालय माध्यमिक शिक्षा की ओर से 14 अगस्त को 128 शिक्षकों के किए गए तबादले विरोध होने पर वापस ले लिए गए। माध्यमिक शिक्षा के अधीन संचालित विद्यालयों के तृतीय श्रेणी शिक्षक अध्यापक लेवल प्रथम व द्वितीय के विषयवार तबादले कर 21 अगस्त तक शाला दर्पण पर कार्य मुक्त तथा कार्यभार ग्रहण के निर्देश दिए गए। शिक्षकों ने नियमों का हवाला देते हुए उच्च अधिकारियों को शिकायत की तो दो दिन बाद आदेश वापस ले लिए गए।


दरअसल 14 जून को विभाग की ओर से 441 शिक्षकों का 6डी के तहत सेटअप परिवर्तन से तबादले किए गए। इसमें से 300 के करीब शिक्षकों ने तो नवीन स्थान पर कार्य ग्रहण कर लिया। लेकिन 150 के करीब करीब शिक्षकों ने न्यायालय की शरण ली। इस दौरान न्यायालय ने इन शिक्षकों की परिवेदना सुनने के लिए विभाग को निर्देश दिए। इसके बाद विभाग ने एक बारगी फिर से तबादले किए, तो शिक्षकों ने विरोध जताते हुए पुन: न्यायालय की शरण ली। न्यायालय ने विभाग को शिक्षकों की परिवेदना सुनने के साथ सही आदेश करने के निर्देश दिए। विभाग ने 14 अगस्त को शेष रहे 128 शिक्षकों के स्थानांतरण किए। लेकिन यहां नियमों को धत्ता बताते हुए 28 के करीब शिक्षकों को नजदीकी स्कूलों में पद स्थापित किया शेष की सुनवाई नहीं हुई। शिक्षकों ने फिर से आपत्ति जताते हुए उच्च अधिकारियों को शिकायत की। इसके बाद सभी 128 के तबादला आदेश वापस ले लिए गए।


कूडे के विरोध में दो भाइयों को मारी गोली

कूड़ा डालने के विवाद में दो भाइयों की गोली मारकर हत्या
सहारनपुर । रविवार सुबह कूड़ा डालने को लेकर हुए विवाद में पड़ोसी ने मीडिया कर्मी व उसके भाई की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने हत्‍यारोपित परिवार की दो महिलाओं को हिरासत में लिया है। कोतवाली नगर क्षेत्र के मोहल्ला माधव नगर में मीडियाकर्मी आशीष कुमार अपने परिवार के साथ रहते थे। रविवार सुबह कूड़ा डालने को लेकर पड़ोसी से झगड़ा हो गया। बात इतनी बढ़ी कि पड़ोसी ने घर में घुसकर आशीष कुमार व उसके भाई आशुतोष कुमार की गोली मारकर हत्‍या कर दी। एसएसपी समेत तमाम पुलिस आधिकारी मौक पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। आशीष की पत्नी 6 माह की गर्भवती है। दो साल पहले आशीष के पिता की बीमारी से मौत हो चुकी है। एसएसपी का कहना है कि हत्‍यारोपितों को जल्‍द गिरफ्तार किया जाएगा।


बढ़ रही है चांद और धरती के बीच दूरी

नई दिल्‍ली। अंतरिक्ष में कई तरह के बदलाव होते रहते हैं। वैज्ञानिक इसके बारे में पता लगाने के लिए कई तरह के शोध करते रहते हैं। इसके लिए वैज्ञानिक यानों के द्वारा भी जानकारी हासिल करते हैं। इसी तरह के हाल ही शोध में ज्ञात हुआ है कि इन दिनों चंद्रमा लगातार पृथ्वी से दूर जा रहा है। कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि ये ब्रह्मांड के विस्तार के कारण हो सकता है। इसी के साथ कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि किसी ब्रह्मांड री क्रिया के कारण ये समस्या आ सकती है। वैज्ञानिक कहते है कि इसी वजह से इन दिनों धरती पर दिन बड़े हो रहे हैं। एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि लगभग 1.4 अरब साल पहले पृथ्वी पर केवल एक दिन मात्र 18 घंटे का ही हुआ करता था इस बात ने सारे वैज्ञानिकों को बहुत ही गहरे ढंग से हिला दिया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि अब यह अवधि 24 घंटे हो चुकी है क्योंकि चांद धरती से दूर हो गया है। इनका कहना था की अब ये धीरे धीरे और दूर होता जा रहा है जिससे हो सकता है किये घंटे भी बढ़ सकते हैं। जानकारी दे दे कि प्रोसिडिंग्स ऑफ द नैशनल अकैडमी ऑफ साइंसेज नामक शोध पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। वैज्ञानिकों को प्राप्त आकंड़े बताते है कि करीबन 1.4 अरब वर्ष पहले चंदा मामा पृथ्वी के बहुत ज्यादा नजदीक था। तो उसक वक्त दिन छोटे हुआ करते थे। इस तरह से अब जाकर दिन बहुत बड़े हो चुके हैं और ये ये क्रिया निरंतर जारी है। वैज्ञानिकों ने जानकारी दी है कि जैसे-जैसे चंद्रमा दूर होता जा रहा है वैसे वैसे पृथ्वी एक स्पिनिंग फिगर स्केटर की तरह व्यवहार करती जा रही है। और ये ही कारण है कि वह दिन की अवधि को बढ़ाती जा रही है। बता दे कि इस घटना की वजह से ही अन्य कई तरह के खगोलीय परिवर्तन हो रहे हैं। खगोलियविद बताते है कि इस तरह के अनियमित व्यवहार से ब्रह्मांड में पृथ्वी की गति के साथ ही दूसरे ग्रह भी प्रभावित होते हैं।


क्रिकेट टीम में युवाओं को मिलेगा मौका

नई दिल्‍ली। आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के समाप्त होने के बाद टीम इंडिया में अब यंग टैलेंट को मौके दिए जाने की मांग लगातार उठ रही है।वर्ल्ड कप समाप्त होने के बाद वेस्टइंडीज टूर के लिए कुछ यंग खिलाड़ियों को टीम में चुना तो गया। लेकिन शुभमन गिल को मौका नहीं देने वाला निर्णय बहुत ज्यादा दंग करने वाला था। पिछले कुछ समय में शुभमन गिल ने अपने आप को हर मंच पर साबित करके दिखाया है। लेकिन फिर भी होने कि सम्भावना है। उनके प्रदर्शन में कुछ तो कमी रह गई होगी, जो वो चयनकर्ताओं को प्रभावित नहीं कर पाए। इस बीच गिल समेत कई यंग खिलाड़ियों के पास अब मौका है। चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी तरफ खींचने का।


शुभमन गिल पर होंगी चयनकर्ताओं की नजरें


दरअसल, शनिवार से दिलीप ट्रॉफी का आगाज हो चुका हैवये मंच शुभमन गिल के लिए एक बेहतरीन मौका साबित होने वाला है। चयनकर्ताओं को प्रभावित करने का। दुनिया कप समाप्त होने के बाद माना जा रहा था कि शुभमन गिल को वेस्टइंडीज टूर के लिए टीम में चुना जा सकता है, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। आपकी जानकारी के लिए बताते चलेंकि शुभमन गिल इस वक्त ऐसा खिलाड़ी हैं, जिनके बारे में हर कोई बात कर रहा है। पंजाब का ये सलामी बल्लेबाज दिलीप ट्रॉफी में इंडिया ब्लू का कैप्टन है।


हाल ही में गिल ने वेस्टइंडीज ए केविरूद्धलगाया था दोहरा शतक


वैसे तोबोलाजाता है दिलीप ट्रॉफी टूर्नामेंट इंडिया में स्थान बनाने के लिए होता है। लेकिन शुभमन गिल तो पहले ही इंडिया की तरफ से खेलते हुए वेस्टइंडीड में धूम मचा चुके हैं। शुभमन गिल ने हाल ही में वेस्टइंडीज ए के विरूद्ध खेलते हुए ऐतिहासिक दोहरा शतक जड़ा था।इतना ही नहीं टेस्ट मैच से पहले अनाधिकारिक वनडे सीरीज में भी गिल ने 3 हाफ सेंचुरी लगाई थीं।शुभमन गिल का अंतराष्ट्रीय डेब्यू हो चुका है। उन्होंने इसी वर्ष जनवरी में न्यूजीलैंड के विरूद्ध दो वनडे मैच खेले थे, जिसमें उन्होंने सिर्फ 16 रन बनाए थे।वैसे तो माना जा रहा है कि अपने प्रदर्शन के दम पर ये खिलाड़ी जल्द ही टीम इंडिया में अपना स्थान बना लेगा। लेकिन दिलीप ट्रॉफी में बेहतरीन प्रदर्शन कर चयनकर्ताओं को प्रभावित करने का गिल के पास मौका है।


रवि अनुभव से बने दोबारा कोच:कपिल

नई दिल्ली। रवि शास्त्री एक बार फिर टीम इंडिया के कोच बन गए हैं। दोबारा कोच बनने में टीम के साथ उनकी पहले से जान पहचान और समस्याएं जानना काम आया। शास्त्री 2021 में होने वाले टी-20 विश्व कप तक टीम के कोच बने रहेंगे। वह इस समय टीम के साथ विंडीज दौरे पर हैं और उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सीएसी के समक्ष इंटरव्यू दिया। सीएसी ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन कर इस बात की जानकारी दी। सीएसी के चेयरमैन कपिल देव ने कहा, ”नंबर तीन पर आस्ट्रेलिया के ऑलराउंडर टॉम मूडी थे और नंबर दो पर न्यूजीलैंड के माइक हेसन। आपने जैसी उम्मीद लगाई थी रवि शास्त्री नंबर एक रहे। लेकिन यह काफी करीबी मुकाबला था।” उन्होंने कहा, ”हम तीनों ने आमसहमति से फैसला किया है कि रवि शास्त्री भारतीय टीम के मुख्य कोच पद पर बने रहेंगे।” शास्त्री ने इस रेस में आस्ट्रेलिया के टॉम मूडी और न्यूजीलैंड के माइक हेसन को पीछे छोड़ा।


इन तीनों के अलावा भारत के पूर्व मैनेजर रह चुके लालचंद राजपूत और रोबिन सिंह भी रेस में थे, लेकिन यह दोनों आखिरी तीन में नहीं पहुंच पाए। वहीं वेस्टइंडीज के पूर्व कोच फिल सिमंस ने अपना नाम वापस ले लिया था। कपिल ने कहा, ”तीनों के बीच काफी जबरदस्त प्रतिस्पर्धा थी और शास्त्री काफी करीबी अंकों से आगे रहे। हमने चुनाव करते हुए कोचिंग स्किल्स, उनके अनुभव, खेल की जानकारी, उपलब्धियां और जो भी हमें पैरामीटर दिए गए थे। उनको ध्यान में रखा। हमने उनके प्रेजेंटेशन को ध्यान से सुना और उनको सुनने के बाद उनको अंक दिए।” अंशुमन गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी सीएसी के दो अन्य सदस्य थे। अंशुमन ने शास्त्री को चुनने की वजह बताते हुए कहा, ”वह पहले से ही टीम के बारे में जानते हैं, वह टीम के खिलाड़ियों को बेहतर तरीके से जानते हैं। वह जानते हैं कि टीम में क्या समस्याएं हैं और उन्हें दूर कैसे करना है।


'इंशाअल्लाह' की शूटिंग में होगी देरी

मुंबई । बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान इन दिनों अपनी फिल्म दबंग 3 की शूटिंग में व्यस्त हैं। इस फिल्म के आखिरी शेड्यूल की शूटिंग जयपुर में चल रही है। फिल्म की शूटिंग लगभग खत्म होने वाली है। जिसके बाद सलमान खान पद्मावत निर्देशक संजय लीला भंसाली की अगली फिल्म इंशाल्लाह की शूटिंग मुंबई में शुरू करेंगे। इंशाअल्लाह में सलमान खान के साथ आलिया भट्ट मुख्य भूमिका में नजर आएंगी। साथ ही बताया जा रहा है कि मुंबई के बाद इस फिल्म की शूटिंग का अगला शेड्यूल अमेरिका के फ्लॉरिडा में हो सकता है। इसके अलावा सलमान खान अपने पॉपुलर टीवी रियलिटी शो बिग बॉस सीजन 13 की शूटिंग भी मुंबई में शुरू करेंगे। अब सलमान के फैंस के लिए निराश करने वाली खबर आई है कि इंशाअल्लाह की शूटिंग शुरु होने में देरी होगी।खबरों की माने तो दबंग सीरीज की तीसरी फिल्म की शूटिंग को निपटाते ही सलमान काम से ब्रेक लेकर अपने पूरे परिवार के साथ एक ब्रेक लेकर अमेरिका में छुट्टी बिताने जाने वाले हैं। इसके बाद ही वह वापस आकर अपनी फिल्म इंशाअल्लाह और बिग बॉस 13 की शूटिंग के लिए वक्त निकालेंगे। यह भी कहा जा रहा है कि इस फिल्म की शूटिंग अगस्त में ही शुरू होनी थी। लेकिन सलमान और आलिया के टाइट शेड्यूल की वजह से शूटिंग अब सितंबर के पहले हफ्ते में मुंबई में शुरू होगी। सलमान खान की सभी फिल्मों की तरह इंशाल्लाह को भी पूरा होने में लगभग 100 दिन लगेंगे। वहीं अगर बात करें सलमान खान के टीवी रियलिटी शो बिग बॉस सीजन 13 की बात करें। सूत्रों ने बताया कि यह सलमान के लिए हर हफ्ते का मामला है और वह इस साल लोनावाला के बजाय मुंबई में उसी की शूटिंग करेंगे।


भंसाली प्रोडक्शन से जुड़े सूत्रों की मानें तो फ़िल्म की शूटिंग मुंबई के स्टूडियो से शुरू होगी और उसके बाद फ़िल्म के कुछ सीन उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में शूट होंगे और उसके बाद फ़िल्म का एक शेडयूल अमेरिका में शूट होगा। आपको बता दें कि इंशाअल्लाह में सलमान खान और आलिया भट्ट की जोड़ी पर्दे पर पहली बार साथ नज़र आएगी। इस फ़िल्म में आलिया भट्ट का किरदार गंगा किनारे रहने वाली लड़की का होगा इसीलिए फ़िल्म के सीन हरिद्वार और ऋषिकेश में भी शूट होंगे।


तान्या देओल ने करीना को जड़ा थप्पड़

मुंबई । सनी देओल की रवैया के बारे में तो आप जानते ही हैं। सनी देओल ने हमेशा ऐसी फिल्में की है। जिनमें उन का दबंग अंदाज देखने को मिलता है। लेकिन अब धीरे-धीरे सनी देओल की फिल्मी पर्दे से दूरी बनती जा रही है क्योंकि उनकी उम्र भी काफी ज्यादा हो गई है। उनको अच्छी फिल्में ऑफर नहीं हो रही लेकिन सनी देओल जैसा ही रवैया उनके खानदान में भी है।


दरअसल आप बॉबी देओल की पत्नी तान्या देओल को तो जानते होंगे। तान्या देओल अपने पति बॉबी देओल से ज्यादा सुर्खियों में रहती हैं। लेकिन सन 2001 में आने वाले एक ऐसी घटना को अंजाम दे दिया। जिससे कम ही लोग रूबरू होंगे। 2001 में बॉबी देओल अपनी अजनबी फिल्म की शूटिंग कर रहे थे। जिसमें उनके अपोजिट करीना कपूर काम कर रही थीं।शूटिंग पर बॉबी देओल के साथ उनकी पत्नी तान्या देओल और करीना कपूर के साथ उनकी मां बबीता जाया करती थीं। करीना कपूर की मां बबीता ने किसी बात के चलते बॉबी देओल को भला बुरा कह दिया और यह सब कुछ तान्या देओल को अच्छा नहीं लगा। इसलिए उन्होंने बबीता पर भी कुछ कमेंट कर दिया और यह सब कुछ करीना कपूर सहन नहीं कर पाईं और उन्होंने अपनी मां का पक्ष लिया।और इसी बात के चलते करीना कपूर और तान्या देओल के बीच बहस होने लगी और तान्या देओल ने करीना कपूर को जोरदार थप्पड़ मार दिया। यह मामला गर्म पड़ता इसी बीच अक्षय कुमार ने दोनों का बीच बचाव किया। लेकिन इस झगड़े को तान्या देओल ने माफी मांग कर शांत कर दिया। लेकिन आज भी करीना कपूर उस घटना को बुरे सपने की तरह सोचती होंगी।


यूपी कैबिनेट का किया जाएगा विस्तार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कैबिनेट में जल्द ही फेरबदल हो सकता है और योगी मंत्रिमंडल में नए चेहरों को जगह मिल सकती है। शनिवार शाम को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सूबे की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मुलाकात की। दोनों के बीच करीब आधे घंटे तक बातचीत चली। इस मुलाकात के बाद से योगी मंत्रिमंडल के विस्तार की अटकलें तेज हो गई हैं।बताया जा रहा है कि यह मुलाकात बेहद अहम थी, जिसको पूरी तरह से गोपनीय रखा गया। इस दौरान सीएम योगी और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के बीच राज्य में होने वाले कैबिनेट फेरबदल और नए मंत्रियों को शामिल करने को लेकर चर्चा हुई।इस मुलाकात के बाद से 20 अगस्त तक यूपी मंत्रिमंडल में फेरबदल के कयास लगाए जा रहे हैं। माना जा रहा है कि जल्द ही योगी मंत्रिमंडल में नए चेहरे शामिल होंगे और कुछ मंत्रियों की छुट्टी होगी। इसके साथ ही कई मंत्रियों के विभाग भी बदले जाएंगे।इससे पहले शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की थी। इस बैठक में बीजेपी के संगठन महामंत्री बीएल संतोष भी शामिल हुए थे। इस दौरान चारों नेताओं के बीच यूपी में मंत्रिमंडल में फेरबदल को लेकर लंबी चर्चा हुई थी।


बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात के बाद खबर आई थी कि इन चारों नेताओं ने मंत्रिमंडल में संभावित फेरबदल को आखिरी रूप दिया है। आपको बता दें कि हालिया लोकसभा चुनाव में इलाहाबाद सीट से रीता बहुगुणा जोशी, कानपुर से सत्यदेव पचौरी और आगरा से एसपी सिंह बघेल ने जीत दर्ज की थी। इसके बाद तीनों नेताओं ने योगी मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था।इसके अलावा ओम प्रकाश राजभर भी योगी सरकार का साथ छोड़ चुके हैं। इन चारों मंत्रियों के विभाग दूसरे सहयोगी मंत्री संभाल रहे हैं। उत्तर प्रदेश में सीएम योगी समेत मंत्रिमंडल में कुल 43 सदस्य हैं, जबकि अधिकतम 60 मंत्री बनाए जा सकते हैं। इस तरह से करीब एक दर्जन मंत्री बनाए जाने की गुंजाइश है।


संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्वागत:इमरान

नई दिल्‍ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा कश्मीर पर बंद कमरे में विचार-विमर्श करने का शनिवार को स्वागत करते हुए कहा कि इस विवाद को हल करना विश्व निकाय की ”जिम्मेदारी” है।खान ने ट्विटर पर कहा कि पांच दशक में यह पहली बार है जब ”दुनिया के सर्वोच्च कूटनीतिक फोरम” ने कश्मीर और वहां मौजूद ”गंभीर स्थिति” के मुद्दे को उठाया। उन्होंने कहा, ”मैं संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक का स्वागत करता हूं।”खान ने कहा कि इस मुद्दे पर परिषद के 11 प्रस्ताव हैं और यह बैठक ”इन प्रस्तावों की पुन: पुष्टि” के लिए हुई। उन्होंने कहा कि इस विवाद का समाधान निकालना ”इस विश्व निकाय की जिम्मेदारी” है।


खान के बयान से एक दिन पहले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने न्यूयॉर्क में एक अनौपचारिक बैठक में कश्मीर के मुद्दे को उठाया। पाकिस्तान ने इसे बड़ी सफलता मिलने का दावा किया है।असल में कश्मीर पर सुरक्षा परिषद की बैठक बेनतीजा रही जिससे पाकिस्तान और उसके मित्र देश चीन की इस मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों को धक्का लगा। 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अधिकतर सदस्यों ने इसे नयी दिल्ली और इस्लामाबाद के बीच द्विपक्षीय मुद्दा बताया।


बैठक की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने बताया कि चीन अगस्त महीने के लिए सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष पोलैंड द्वारा किए गए विचार-विमर्श के बाद कोई नतीजा निकालने या बयान जारी करने पर जोर दे रहा था। बहरहाल, सुरक्षा परिषद के ज्यादातर सदस्यों ने कहा कि कोई बयान जारी नहीं होना चाहिए या कोई नतीजा नहीं निकालना चाहिए।चीन और पाकिस्तान के अनुरोध पर अनौपचारिक बैठक पूरी होने के बाद संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने मीडिया से कहा कि भारत का रुख यही था और है कि संविधान के अनुच्छेद 370 संबंधी मामला पूर्णतया भारत का आतंरिक मामला है और इसका कोई बाह्य असर नही है ।


बोरी में बंद नाले में मिला बच्ची का शव

गाजियाबाद। अभय खंड स्थित नाले के अंदर बोरे में बंद मासूम बच्ची का शव मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई। मृतका की शिनाख्त गाजियाबाद खोड़ा थाना क्षेत्र की एक कालोनी से पांच दिन पूर्व लापता मासूम के रूप में हुई। शिनाख्त होने पर पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। शव देखने में चार से पांच दिन पुराना प्रतीत हो रहा था। पुलिस रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच में जुटी है।शनिवार सुबह करीब 11 बजे राहगीर ने एनएच नौ के पास नाले के अंदर बोरे पर मक्खियां भिनभनाते देखकर उसमें शव होने की आशंका जताते हुए इंदिरापुरम थाना पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बोरे को बाहर निकलवाया। बोरा खोलने पर उसमें मासूम लड़की का शव बरामद हुआ। शव देखने में चार से पांच दिन पुराना प्रतीत हो रहा था। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर शिनाख्त के लिए खोड़ा समेत अन्य थानों में संपर्क किया। कुछ देर बाद मृतका की शिनाख्त खोड़ा थाना क्षेत्र की एक कालोनी में रहने वाले युवक ने अपनी भांजी के रूप में की।


12 अगस्त से लापता थी बच्ची: बच्ची अपने नाना के पास रहती थी। मामा ने बताया कि 12 अगस्त को सुबह करीब 11 बजे वह घर में खेलते-खेलते संदिग्ध परिस्थिति में लापता हो गई थी। परिजनों ने खोड़ा थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी। जानकारी मिलने पर एसपी सिटी और पुलिस क्षेत्रधिकारी ने घटना स्थल का मौका मुआयना किया।


हत्या की वजह स्पष्ट नहीं: पुलिस क्षेत्रधिकारी इंदिरापुरम अंशु जैन ने बताया कि मृतका के शरीर पर किसी प्रकार के चोट के निशान नहीं मिले हैं। प्रारंभिक जांच में मामला रंजिश का प्रतीत हो रहा है। हत्या के अलावा अन्य कोणों पर भी जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।


उत्पीड़न,ब्लैकमेल के कारण डीसीपी ने दी जान

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़ । डीसीपी विक्रम कपूर को एक विडियो के जरिए ब्लैकमेल किया जा रहा था, जिसमें वह एक महिला के साथ थे। ब्लैकमेलिंग का आरोप एसएचओ अब्दुल शहीद पर है। कहा गया है कि वह 2 करोड़ रुपये की मांग कर रहे थे।डीसीपी विक्रम कपूर की आत्महत्या के मामले में एक नया खुलासा हुआ है। पता चला है कि कपूर को हनी ट्रैप में फंसाया गया था, जिससे वह परेशान थे। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, उन्हें एक विडियो के जरिए ब्लैकमेल किया जा रहा था, जिसमें वह एक महिला के साथ थे। ब्लैकमेलिंग का आरोप एसएचओ अब्दुल शहीद पर है। कहा गया है कि वह 2 करोड़ रुपये की मांग कर रहे थे।आरोपी एसएचओ शहीद को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया था। शुक्रवार को उन्हें सस्पेंड कर चार दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया था। सूत्रों से जानकारी मिली है कि एसएचओ शहीद ने एक महिला की सहायता से कपूर को फंसाया। दोनों की एक विडियो भी कथित रूप से एसएचओ के पास थी, जिससे वह कपूर को ब्लैकमेल कर रहे थे।


डीसीपी खुदकुशी: फोन कॉल डीटेल पर टिकी जांच


सूत्र ने कहा, 'शहीद ने इसमें अपनी महिला दोस्त की मदद ली थी। विडियो बनाकर डीसीपी से 2 करोड़ रुपये की मांग की गई। कपूर इस टेंशन में थे कि वह इतने रुपयों का इंतजाम कैसे करें? कपूर ने गुजारिश के लिए शहीद को फोन किया, लेकिन वह कपूर को गालियां देने लगे।'
ज्यादा प्रेशर के लिए पत्रकार का सहारा


कपूर पर ज्यादा प्रेशर बनाने के लिए शहीद ने एक लोकल पत्रकार (सतीश मलिक) की भी मदद ली थी। इस बीच वह पत्रकार कपूर के खिलाफ खबरें करने लगा था। मलिक मजदूर मोर्चा नाम का एक अखबार चलाता है। इस अखबार में वह सीनियर पुलिस अफसर, नेताओं और जजों के खिलाफ ही स्टोरीज किया करता था। 2003 में मलिक को मर्डर के केस मे पकड़ा गया था। उसपर धोखाधड़ी का भी केस था।हालांकि, पुलिस की तरफ से अभी यह नहीं बताया गया है कि कपूर को ब्लैकमेल क्यों किया जा रहा था। उन्होंने बस इतना बताया कि मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी गई है।


एसएचओ का रेकॉर्ड साफ नहीं


शहीद के बारे में पता चला है कि वह 20 साल पहले पुलिस में सिपाही के तौर पर भर्ती हुए थे। उसके पिता आईपीएस अफसर के घर काम करते थे। उनके कहने पर ही शहीद को नौकरी मिलने में आसानी हुई थी। अपनी नौकरी के दौरान उनका रेकॉर्ड भी साफ नहीं है। सिपाही से एसएचओ तक के सफर पर भी काफी सवाल उठ रहे हैं।


रैली से नहीं हुआ,हुड्डा की राजनीति का निर्णय

फरिदाबाद। पिछले दिनों हरियाणा के कई इलाकों में इस गुट द्वारा बड़ी बड़ी रैलियों का आयोजन भी किया गया था l इस गुट की पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के पास पहुँच होने के कारण वहां केंद्रीय नेतृत्व को फीड बैक भी इसी गुट द्वारा दी जाती है। राजनैतिक विश्लेषकों का मानना है जो फीड बैक इस गुट द्वारा दी जाती है। वह निश्चित तौर पर हरियाणा की राजनीती में कांग्रेस के इन दोनों नेताओं को लड़वाने और खुद का वर्चस्व बढ़ने के लिए कारगर होती है। यह भी माना जा रहा है कई पर्दे के पीछे से राजनीति के मोहरे चलने वाले इस गुट पर कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व पूरा भरोसा करता है और राहुल गाँधी के साथ श्रीमती सोनिया गाँधी का भी उसे पूरा आशीर्वाद प्राप्त है। 
बतादें कि एक दौर में सोनिया गांधी ने हरियाणा के दिग्गज नेता भजनलाल को दरकिनार कर हुड्डा को तरजीह दी थी। सोनिया से रिश्ते में खटास तब आई थी, जब 2016 में हुड्डा ने कांग्रेस के राज्यसभा कैंडिडेट आरके आनंद का सपॉर्ट करने से मना कर दिया था। इसका नतीजा रहा कि आरके आनंद हार गए और निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर सुभाष चंद्रा जीतकर राज्यसभा पहुंच गए। हाई कमान का करीबी इस गुट के नेता इसी बात को लेकर हुड्डा के खिलाफ कांग्रेस आला कमान को भड़काता रहता है।


प्रगति,समृद्धि और सुरक्षा आधारित समझौता

भूटान। ऐतिहासिक सिमटोखा जोंग स्थल पर अपने भूटानी समकक्ष के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तरीय वार्ता के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि मैं दूसरे कार्यकाल के आरंभ में भूटान आकर बहुत खुश हूं। दोनों देशों ने अंतरिक्ष अनुसंधान, विमानन, आईटी, ऊर्जा और शिक्षा के क्षेत्र में 10 सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए। भूटान को भारत का ''विशेष मित्र'' करार देते हुए मोदी ने कहा कि भारत और भूटान के बीच संबंध दोनों देशों के लोगों की प्रगति, समृद्धि और सुरक्षा के साझा हितों पर आधारित है। उन्होंने कहा कि आज हमने मांगदेछू परियोजना के शुभारंभ के साथ इस यात्रा का एक और मील का पत्थर हासिल किया है। दोनों देशों के सहयोग से भूटान में पनबिजली उत्पादन की क्षमता 2000 मेगावाट को पार कर गयी है। मैं आश्वस्त हूं कि हम बहुत तेजी से अन्य परियोजनाओं को भी आगे ले जाएंगे।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भूटान के अपने समकक्ष लोतै शेरिंग से शनिवार को विभिन्न विषयों पर बातचीत की। इस दौरान दोनों नेताओं ने विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय भागीदारी को और प्रगाढ बनाने के कदमों पर चर्चा की। दोनों देशों ने अपने संबंधों में नयी ऊर्जा का संचार करने के लिए 10 सहमति करार पर हस्ताक्षर किए। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, 'हमने गहन चर्चा की, जिसमें हमने भारत और भूटान के बीच संबंधों पर विचार-विमर्श किया। हमारे राष्ट्रों के बीच आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों को और बेहतर बनाने की बहुत गुंजाइश है।' मोदी दूसरी बार भूटान आए हैं और इस साल मई में फिर से निर्वाचित होने के बाद उनकी यह पहली यात्रा है। उन्होंने 740 मेगावाट के मांगदेछू पनबिजली ऊर्जा संयंत्र का शुभारंभ किया तथा भारत-भूटान पनबिजली सहयोग के पांच दशक पूरे होने के उपलक्ष्य में टिकट भी जारी किए।


दोनों नेताओं ने भारत के नेशनल नॉलेज नेटवर्क और भूटान के ड्रूक रिसर्च एंड एजुकेशन नेटवर्क के बीच अंतर-सम्पर्क की ई-पट्टिका का भी अनावरण किया। उन्होंने कहा कि भूटान की प्रगति में बड़ा सहयोगी बनना भारत के लिए गौरव की बात है। भूटान की पंचवर्षीय योजना में भारत का सहयोग जारी रहेगा। दोनों नेताओं ने भूटान में दक्षिण एशिया उपग्रह के इस्तेमाल के लिए इसरो के सहयोग के साथ विकसित सैटकॉम नेटवर्क और ग्राउंड अर्थ स्टेशन का भी संयुक्त तौर पर शुभारंभ किया। मोदी ने कहा कि भारत अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल के जरिए भूटान के विकास को बढावा देने के प्रति कटिबद्ध है। भारत भूटान में संचार, लोक प्रसार और आपदा प्रबंधन कवरेज को बढ़ाएगा। उन्होंने भूटान के लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत से रसोई गैस एलपीजी की आपूर्ति हर महीने 700 एमटी से बढ़ाकर 1000 एमटी करने की घोषणा की।


मोदी ने शब्दरूंग नामग्याल द्वारा 1629 में निर्मित सिमटोखा जोंग में खरीदारी कर रूपे कार्ड की भी शुरुआत की। सिमटोखा जोंग भूटान में सबसे पुराने स्थलों में एक है और यह मठ और प्रशासनिक मामलों का केंद्र है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं आज बहुत खुश हूं, हमने भूटान में रूपे कार्ड की शुरूआत की है। इससे डिजिटल भुगतान और व्यापार तथा पर्यटन में हमारे संबंध और आगे बढ़ेंगे। हमारी साझा आध्यात्मिक धरोहर और लोगों के बीच मजबूत आपसी संपर्क हमारे संबंधों की कुंजी हैं। दक्षेस मुद्रा स्वैप प्रारूप के तहत भूटान के लिए मुद्रा स्वैप सीमा बढाने पर मोदी ने कहा कि भारत का रूख 'सकारात्मक' है। विदेशी विनिमय जरूरत पूरा करने के लिए वैकल्पिक स्वैप व्यवस्था के तहत भूटान को अतिरिक्त 10 करोड़ डॉलर उपलब्ध होगा।


पिता ने की रेप की कोशिश, फिर हत्या

गोरखपुर । उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में 19 साल की बेटी के साथ रेप की कोशिश और फिर उसकी हत्या कर देने का मामला सामने आया है। पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है। एसएसपी सुनील कुमार गुप्‍ता ने बताया कि लड़की की डेड बॉडी बरामद कर ली गई है जो काफी बुरी हालत में थी।


पुलिस ने पिता के खिलाफ धारा 302 और 201 के तहत मामला दर्ज किया है। पिता को जेल भेज दिया गया है। पुलिस का कहना है कि आरोपी ने कड़ी पूछताछ के बाद अपना जुर्म कबूल कर लिया।पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर ही अलग-अलग जगहों से लड़की की डेड बॉडी के हिस्से बरामद किए। लड़की की बॉडी का ऊपरी हिस्सा खेत में था, जबकि निचला हिस्सा एक नाले से बरामद किया गया। पिता पर आरोप है कि उसने धारदार हथियार से गला काटकर बेटी की हत्या कर दी थी। पिछले करीब 20 दिन से वह रिश्तेदारों और अन्य लोगों को गुमराह कर रहा था।ये मामला गोरखपुर के गोला इलाके का है। पुलिस का कहना है कि जय प्रकाश गुप्‍ता नाम के व्यक्ति ने 26-27 जुलाई की रात घटना को अंजाम दिया। उसने डेड बॉडी के हिस्से को बोरे में भरकर नाला में फेंक‍ दिया।


शादी समारोह में धमाका 63 मौत,182 घायल

नई दिल्ली। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में एक शादी समारोह में हुए धमाके से कम से कम 63 लोगों के मरने की खबर है। इस धमाके में 182 से अधिक घायल हुए हैं। यह धमाका शनिवार की रात में हुआ। खबरों के मुताबिक धमाका उस वक्त हुआ जब शादी समारोह का हॉल मेहमानों से खचाखच भरा हुआ था। इस धमाके के बाद वहां अफरातफरी और चीख पुकार मच गई। सभी इधर-उधर भागने लगे। धमाके के बाद से दहशत का माहौल है। हालांकि अभी तक किसी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। इस धमाके को लेकर कुछ सूत्रों का कहना है कि यह सुसाइड बम धमाका था। कहा जा रहा है कि इस समारोह में करीब एक हजार लोगों को बुलाया गया था। इससे 10 दिन पहले भी काबुल में बम धमाका हुआ था, जिसमें 95 लोग घायल हो गए थे।


अधिकारियों की धुलाई करा दूंगा:गडकरी

नागपुर। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का एक कार्यक्रम में दिया बयान सुर्खियों में है। उन्होंने अफसरों को हिदायत देते हुए कहा है कि अगर उन्होंने आठ दिनों में यह काम पूरा नहीं किया तो वे लोगों से कहेंगे कि कानून व्ववस्था हाथ में लेकर धुलाई कर दो। ये बातें नितिन गडकरी ने लघु उद्योग भारती के नागपुर में आयोजित राष्ट्रीय अधिवेशन में कही। वह दरअसल लालफीताशाही पर नाराजगी व्यक्त कर रहे थे। एमएसएमई सेक्टर में काम करने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुडे़ संगठन लघु उद्योग भारती के कार्यक्रम में नितिन गडकरी ने कहा कि उन्होंने हाल में कुछ अधिकारियों को चेतावनी दी कि अगर कुछ मामले नहीं सुलझते हैं तो वह लोगों से कहेंगे कि धुलाई कर दो। नितिन गडकरी ने कहा, 'हमारे पास यह लालफीताशाही क्यों है। ये सब इंस्पेक्टर क्यों आते हैं, वे रिश्वत लेते हैं। मैं उनके मुंह पर कहता हूं कि आप सरकारी नौकर हैं। मैं जनता के द्वारा चुना गया हूं। मैं लोगों के प्रति जवाबदेह हूं। यदि आप चोरी करते हैं, तो मैं कहूंगा कि आप एक चोर हैं।


नितिन गडकरी ने इस दौरान कहा, 'आज मैंने आरटीओ कार्यालय में एक बैठक की, जिसमें निदेशक और परिवहन आयुक्त ने भाग लिया। मैंने उनसे कहा कि आप आठ दिनों के भीतर इस समस्या को हल करें, अन्यथा मैं लोगों को कानून हाथ में लेकर धुलाई करने को कहूंगा। उन्होंने आगे कहा कि उनके शिक्षकों ने यह सिखाया है कि उस सिस्टम को बाहर फेंक दो जो न्याय नहीं देती है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अधिवेशन में भाग लेने आए उद्यमियों से निडर होकर अपने व्यापार का विस्तार करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि अधिकारी व्यापारियों को परेशान नहीं कर सकते।


डूबी हुई रकम वापस हो सकती है:कुंभ

राशिफल


मेष- किसी प्रभावशाली व्यक्ति से सहयोग प्राप्त होगा। पूजा-पाठ में मन लगेगा। तीर्थदर्शन हो सकते हैं। विवेक का प्रयोग करें, लाभ होगा। मित्रों के साथ अच्‍छा समय बीतेगा। विरोध होगा। पारिवारिक सुख-शांति बनी रहेगी। चिंता तथा तनाव रहेंगे। झंझटों में न पड़ें। जल्दबाजी से हानि होगी। आलस्य हावी रहेगा।


वृष- स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। चोट व दुर्घटना से हानि संभव है। कार्य करते समय लापरवाही न करें। बनते कामों में बाधा हो सकती है। विवाद से बचें। काम में मन नहीं लगेगा। किसी व्यक्ति के उकसाने में न आएं। विवेक का प्रयोग करें। आय बनी रहेगी। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। व्यापार ठीक चलेगा।


मिथुन- घर-परिवार की चिंता रहेगी। किसी वरिष्ठ व्यक्ति का मार्गदर्शन व सहयोग प्राप्त होगा। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। घर-परिवार में प्रसन्नता रहेगी। बाहर जाने का मन बनेगा। भाइयों से मतभेद दूर होंगे। व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। संतान पक्ष से खुशियां प्राप्त होंगी।


कर्क- लेन-देन में जल्दबाजी न करें। आवश्यक वस्तु समय पर नहीं मिलने से क्रोध रहेगा। भूमि व भवन संबंधी बड़े सौदे बड़ा लाभ दे सकते हैं। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल रहेगा। बड़ा काम करने का मन बनेगा। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। आय में वृद्धि होगी।


सिंह- रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। किसी प्रबुद्ध व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। मनपसंद भोजन की प्राप्ति संभव है। पारिवारिक सदस्यों तथा मित्रों के साथ आनंदायक समय व्यतीत होगा। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।


कन्या- बुरी सूचना मिल सकती है। मेहनत अधिक होगी। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। आय में कमी रहेगी। नकारात्मकता बढ़ेगी। विवाद से क्लेश होगा। जल्दबाजी में कोई महत्वपूर्ण निर्णय न लें। अनावश्यक परेशानी खड़ी हो सकती है। दूसरों की बातों में न आएं। धैर्य रखें, समय सुधरेगा।


तुला- सामाजिक कार्यों में मन लगेगा। दूसरों की सहायता कर पाएंगे। मान-सम्मान मिलेगा। रुके कार्यों में गति आएगी। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। व्यापार ठीक चलेगा। मनोरंजक यात्रा हो सकती है। मित्रों के साथ अच्‍छा समय व्यतीत होगा। घर-बाहर सुख-शांति रहेगी। झंझटों में न पड़ें। ईर्ष्यालु सक्रिय रहेंगे।


वृश्चिक- उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। कोई नया बड़ा काम करने की योजना बनेगी। भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल चलेगा। भ्रम की स्थिति बन सकती है। बुद्धि का प्रयोग करें। लाभ में वृद्धि होगी। समय प्रसन्नतापूर्वक व्यतीत होगा।


धनु- यात्रा मनोरंजक रहेगी। भेंट व उपहार की प्राप्ति संभव है। किसी बड़ी समस्या का हल मिलेगा। व्यावसायिक साझेदार पूर्ण सहयोग करेंगे। कोई नया उपक्रम प्रारंभ करने का मन बनेगा। सेहत का ध्यान रखें। वरिष्ठजनों की सलाह काम आएगी। नए मित्र बनेंगे। आय बनी रहेगी। हर कार्य बेहतर होगा।


मकर- अनावश्यक जोखिम न लें। किसी भी व्यक्ति के उकसावे में न आएं। फालतू खर्च होगा। पुराना रोग उभर सकता है। सेहत को प्रा‍थमिकता दें। लेन-देन में जल्दबाजी से हानि होगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। महत्वपूर्ण निर्णय लेने का समय नहीं है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। व्यापार मनोनुकूल चलेगा।


कुंभ- मनोरंजक यात्रा की योजना बनेगी। डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। आय में वृद्धि होगी। बिगड़े काम बनेंगे। प्रसन्नता रहेगी। मित्रों के साथ अच्‍छा समय व्यतीत होगा। व्यस्तता के चलते स्वास्‍थ्य बिगड़ सकता है, ध्यान रखें। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रमाद न करें।


मीन- घर-परिवार के साथ आराम तथा मनोरंजन के साथ समय व्यतीत होगा। मान-सम्मान मिलेगा। व्यापार मनोनुकूल चलेगा। योजना फलीभूत होगी। कार्यस्थल पर परिवर्तन संभव है। विरोध होगा। काम करते समय लापरवाही न करें। चोट लग सकती है। थकान तथा कमजोरी महसूस होगी। मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा।


पत्रकारिता की सार्थकता एवं दृष्टिकोण

सामाजिक सरोकारों तथा सार्वजनिक हित से जुड़कर ही पत्रकारिता सार्थक बनती है। सामाजिक सरोकारों को व्यवस्था की दहलीज तक पहुँचाने और प्रशासन की जनहितकारी नीतियों तथा योजनाओं को समाज के सबसे निचले तबके तक ले जाने के दायित्व का निर्वाह ही सार्थक पत्रकारिता है।


पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा पाया (स्तम्भ) भी कहा जाता है। पत्रकारिता ने लोकतंत्र में यह महत्त्वपूर्ण स्थान अपने आप नहीं हासिल किया है। बल्कि सामाजिक सरोकारों के प्रति पत्रकारिता के दायित्वों के महत्त्व को देखते हुए समाज ने ही दर्जा दिया है। कोई भी लोकतंत्र तभी सशक्त है। जब पत्रकारिता सामाजिक सरोकारों के प्रति अपनी सार्थक भूमिका निभाती रहे। सार्थक पत्रकारिता का उद्देश्य ही यह होना चाहिए कि वह प्रशासन और समाज के बीच एक महत्त्वपूर्ण कड़ी की भूमिका अपनाये।


पत्रकारिता के इतिहास पर नजर डाले तो स्वतंत्रता के पूर्व पत्रकारिता का मुख्य उद्देश्य स्वतंत्रता प्राप्ति का लक्ष्य था। स्वतंत्रता के लिए चले आंदोलन और स्वाधीनता संग्राम में पत्रकारिता ने अहम और सार्थक भूमिका निभाई। उस दौर में पत्रकारिता ने पूरे देश को एकता के सूत्र में पिरोने के साथ-साथ पूरे समाज को स्वाधीनता की प्राप्ति के लक्ष्य से जोड़े रखा।


इंटरनेट और सूचना के आधिकार ने आज की पत्रकारिता को बहुआयामी और अनंत बना दिया है। आज कोई भी जानकारी पलक झपकते उपलब्ध की और कराई जा सकती है। मीडिया आज काफी सशक्त, स्वतंत्र और प्रभावकारी हो गया है। पत्रकारिता की पहुँच और आभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का व्यापक इस्तेमाल आमतौर पर सामाजिक सरोकारों और भलाई से ही जुड़ा है, किंतु कभी कभार इसका दुरपयोग भी होने लगा है।


संचार क्रांति तथा सूचना के आधिकार के अलावा आर्थिक उदारीकरण ने पत्रकारिता के चेहरे को पूरी तरह बदलकर रख दिया है। विज्ञापनों से होनेवाली अथाह कमाई ने पत्रकारिता को काफी हद्द तक व्यावसायिक बना दिया है। मीडिया का लक्ष्य आज आधिक से आधिक कमाई का हो चला है। मीडिया के इसी व्यावसायिक दृष्टिकोण का नतीजा है कि उसका ध्यान सामाजिक सरोकारों से कहीं भटक गया है। मुद्दों पर आधारित पत्रकारिता के बजाय आज इन्फोटेमेंट ही मीडिया की सुर्खियों में रहता है।


इंटरनेट की व्यापकता और उस तक सार्वजनिक पहुँच के कारण उसका दुष्प्रयोग भी होने लगा है। इंटरनेट के उपयोगकर्ता निजी भड़ास निकालने और अतंर्गत तथा आपत्तिजनक प्रलाप करने के लिए इस उपयोगी साधन का गलत इस्तेमाल करने लगे हैं। यही कारण है कि यदा-कदा मीडिया के इन बहुपयोगी साधनों पर अंकुश लगाने की बहस भी छिड़ जाती है। गनीमत है कि यह बहस सुझावों और शिकायतों तक ही सीमित रहती है। उस पर अमल की नौबत नहीं आने पाती। लोकतंत्र के हित में यही है कि जहाँ तक हो सके पत्रकारिता को स्वतंत्र और निर्बाध रहने दिया जाए, और पत्रकारिता का अपना हित इसमें है कि वह आभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का उपयोग समाज और सामाजिक सरोकारों के प्रति अपने दायित्वों के ईमानदार निवर्हन के लिए करती रहे।


जनसंख्या नियंत्रण संरचना, प्रभाव

 जन्‍म दर को कम करके जनसंख्या वृद्धि में कटौती करने को ही आम तौर पर जनसँख्या नियंत्रण माना जाता है। प्राचीन ग्रीस दस्तावेजों में मिले उत्तरजीविता के रिकॉर्ड जनसँख्या नियंत्रण के अभ्यास एवं प्रयोग के सबसे पहले उदाहरण हैं। इसमें शामिल है उपनिवेशन आन्दोलन, जिसमे भूमध्य और काला सागर के इर्द-गिर्द यूनानी चौकियों का निर्माण किया गया। ताकि अलग- अलग राज्यों की अधिक जनसँख्या को बसने के लिए पर्याप्त जगह मुहैया कराई जा सके। कुछ यूनानी नगर राज्यों में जनसँख्या कम करने के लिए शिशु हत्या और गर्भपात को प्रोत्साहन दिया गया। 


अनिवार्य जनसंख्या नियंत्रण का एक महत्वपूर्ण उदाहरण है। पीपल्स रिपब्लिक ऑफ़ चाइना, की एक ही बच्चे की नीति जिसमें एक से ज्यादा बच्चे होना बहुत बुरा माना जाता है। इस नीति के परिणाम स्वरुप जबरन गर्भपात, जबरन नसबंदी और जबरन शिशु हत्या जैसे आरोपों को बढ़ावा मिला। देश के लिंग अनुपात में ११४ लड़कों की तुलना में सिर्फ १०० लड़कियों का जन्म ये प्रदर्शित करता है कि शिशु हत्या प्रायः लिंग के चुनाव के अनुसार की जाती है।


यह बात उपयोगी होगी अगर प्रजनन नियंत्रण करने को व्यक्ति के व्यक्तिगत निर्णय के रूप में और जनसंख्या नियंत्रण को सरकारी या राज्य स्तर की जनसंख्या वृद्धि की विनियमन नीति के रूप में देखा जाए। प्रजनन नियंत्रण की संभावना तब हो सकती है जब कोई व्यक्ति या दम्पति या परिवार अपने बच्चे पैदा करने के समय को घटाने या उसे नियंत्रित करने के लिए कोई कदम उठाये। अन्सले कोले द्वारा दिए गए संरूपण में, प्रजनन में लगातार कमी करने के लिए तीन पूर्वप्रतिबंध दिए गए हैं: (१) प्रजनन के मान्य तत्व के रूप में परिकलित चुनाव को स्वीकृति (भाग्य या अवसर या दैवीय इच्छा की तुलना में), (२) कम किये गए प्रजनन से ज्ञात लाभ और (३) नियंत्रण के प्रभावी तरीकों का ज्ञान और उनका प्रयोग करने का कुशल अभ्यास। प्राकृतिक प्रजनन पर विश्वास करने वाले समाज के विपरीत वो समाज जो कि प्रजनन को सीमित करने की इच्छा रखते हैं और ऐसा करने के लिए उनके पास संसाधन भी उपलब्ध हैं। वो इन संसाधनों का प्रयोग बच्चों के जन्म में विलम्ब, बच्चों के जन्म के बीच अंतर रखने, या उनके जन्म को रोकने के लिए कर सकते हैं। संभोग (या शादी) में देरी, या गर्भनिरोध करने के प्राकृतिक या कृत्रिम तरीके को अपनाना ज्यादा मामलों में व्यक्तिगत या पारिवारिक निर्णय होता है। इसका राज्य नीति या सामाजिक तौर पर होने वाले अनुमोदनों से कोई सरोकार नहीं होता है। दूसरी ओर, वो व्यक्ति, जो प्रजनन के मामले में खुद पर नियंत्रण रख सकते हैं। ऐसे लोग बच्चे पैदा करने की प्रक्रिया को ज्यादा योजनाबद्ध बनाने या उसे सफल बनाने की प्रक्रिया को और तेज़ कर सकते हैं।


सामाजिक स्तर पर, प्रजनन में गिरावट होना महिलाओं की बढती हुई धर्मनिरपेक्ष शिक्षा का एक अनिवार्य परिणाम है। हालाँकि, यह ज़रूरी नहीं है कि मध्यम से उच्च स्तर तक के प्रजनन नियंत्रण में प्रजनन दर को कम करना शामिल हो। यहां तक कि जब ऐसे अलग अलग समाज की तुलना हो जो प्रजनन नियंत्रण को अच्छी खासी तरह अपना चुके है, तो बराबर प्रजनन नियंत्रण योग्यता रखने वाले समाज भी काफी अलग अलग प्रजनन स्तर (जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या के सन्दर्भ में) दे सकते हैं। जो कि इस बात से जुड़ा होता है कि छोटे या बड़े परिवार के लिए या बच्चों की संख्या के लिए व्यक्तिगत और सांस्कृतिक पसंद क्या है।


प्रजनन क्षमता पर नियंत्रण के विपरीत, जो मुख्य रूप से एक व्यक्तिगत स्तर का निर्णय है। सरकार जनसँख्या नियंत्रण करने के कई प्रयास कर सकती है। जैसे गर्भनिरोधक साधनों तक लोगों की पहुँच बढ़ाकर या अन्य जनसंख्या नीतियों और कार्यक्रमों के द्वारा। जैसा की ऊपर परिभाषित है, सरकार या सामाजिक स्तर पर 'जनसंख्या नियंत्रण' को लागू करने में "प्रजनन नियंत्रण" शामिल नहीं है, क्योंकि एक राज्य समाज की जनसंख्या को तब भी नियंत्रित कर सकता है जबकि समाज में प्रजनन नियंत्रण का प्रयोग बहुत कम किया जाता हो। जनसंख्या नियंत्रण के एक पहलू के रूप में आबादी बढाने वाली नीतियों को अंगीकृत करना भी ज़रूरी है और ज़रूरी है कि ये समझा जाए की सरकार जनसँख्या नियंत्रण के रूप में सिर्फ जनसख्या वृद्धि को रोकना नहीं चाहती| जनसंख्या वृद्धि को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार न केवल अप्रवास का समर्थन कर सकती है बल्कि जन्म समर्थक नीतियों जैसे कि कर लाभ, वित्तीय पुरस्कार, छुट्टियों के दौरान वेतन देना जारी रखने और बच्चों कि देख रेख में मदद करने द्वारा भी लोगों को अतिरिक्त बच्चे पैदा करने के लिए प्रोत्साहित कर सकती है। उदाहरण के लिए हाल के सालों में इस तरह की नीतियों फ्रांस और स्वीडन में अपनाई गयीं। जनसंख्या वृद्धि बढ़ने के इसी लक्ष्य के साथ, कई बार सरकार ने गर्भपात और जन्म नियंत्रण के आधुनिक साधनों के प्रयोग को भी नियंत्रित करने की कोशिश की है। इसका एक उदाहरण है मांग किये जाने पर गर्भनिरोधक साधनों और गर्भपात के लिए वर्ष 1966 में रोमानिया में लगा प्रतिबन्ध।


पारिस्थितिकी में, कई बार जनसंख्या नियंत्रण पूरी तरह सिर्फ परभक्षण, बीमारी, परजीवी और पर्यावरण संबंधी कारकों द्वारा किया जाता है। एक निरंतर वातावरण में, जनसंख्या नियंत्रण भोजन, पानी और सुरक्षा की उपलब्धता द्वारा ही नियंत्रित होता है। एक निश्चित क्षेत्र अधिकतम कुल कितनी प्रजातियों या कुल कितने जीवित सदस्यों को सहारा दे सकता है उसे उस जगह की धारण क्षमता कहते हैं। कई बार इसमें पौधों और पशुओं पर मानव प्रभाव भी इसमें शामिल होता है। किसी विशेष ऋतू में भोजन और आश्रय की ज्यादा उपलब्धता वाले क्षेत्र की ओर पशुओं का पलायन जनसंख्या नियंत्रण के एक प्राकृतिक तरीके के रूप में देखा जा सकता है। जिस क्षेत्र से पलायन होता है वो अगली बार के लिए पशुओं के बड़े समूह हेतु भोजन आपूर्ति जुटाने या पैदा करने के लिए छोड़ दिया जाता है।


भारत एक और ऐसा उदाहरण है जहाँ सरकार ने देश की आबादी कम करने के लिए कई उपाय किये हैं। तेज़ी से बढती जनसँख्या आर्थिक वृद्धि और जीवन स्तर पर दुष्प्रभाव डालेगी, इस बात की चिंता के चलते 1950 के दशक के आखिर मे और 1960 के दशक के शुरू में भारत ने एक आधिकारिक परिवार नियोजन कार्यक्रम लागू किया। विश्व में ऐसा करने वाला ये पहला देश था।


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...