जम्मू-कश्मीर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जम्मू-कश्मीर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 14 सितंबर 2021

आतंकियों द्वारा किये हमले में 4 नागरिक घायल हुए

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में मंगलवार को सुरक्षा बलों को निशाना बनाकर आतंकवादियों द्वारा किये गए एक ग्रेनेड हमले में कम से कम चार नागरिक घायल हो गए। यह जानकारी अधिकारियों ने दी। आतंकवादियों ने आज दोपहर में पुलवामा चौक पर सुरक्षा बलों के एक वाहन की ओर ग्रेनेड फेंका, लेकिन ग्रेनेड सड़क किनारे फट गया। 
अधिकारियों ने बताया कि घायलों को अस्पताल ले जाया गया है, जबकि सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर दी है। कश्मीर में हाल के दिनों में आतंकियों के ग्रेनेड हमले बढ़ गए हैं। पिछले सप्ताह शहर के चनापोरा इलाके में एक ग्रेनेड हमले में दो महिलाओं सहित तीन लोग घायल हो गए थे। सुरक्षा बलों ने सोमवार को राष्ट्रीय राजमार्ग 44 के व्यस्त परिम्पिरा-पंथाचौक मार्ग पर आतंकवादियों द्वारा लगाए गए छह ग्रेनेड का पता लगाया था और उन्हें निष्क्रिय किया था।

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों द्वारा किया गया हमला

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में आतंकियों द्वारा हमला किया गया है। जिसमें तीन आम नागरिक जख्मी हो गए हैं। जानकारी के मुताबिक, हमले का निशाना पुलिस पार्टी को बनाया गया था। 
लेकिन हैंड ग्रेनेड सड़क पर ही फट गया जिससे तीन आम नागरिक जख्मी हो गए हैं। ये हमला पुलवामा के राजपोरा चौक के पास हुआ है। फिलहाल इलाके को खाली करा लिया गया है। वहां भारी संख्या में फोर्स तैनात है।


रविवार, 12 सितंबर 2021

बादल फटने की एक घटना में चार सदस्यों की मौंत

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में रविवार को बादल फटने की एक घटना में बकरवाल (घुमंतू समुदाय) परिवार के चार सदस्यों की मौत हो गई। पुलिस ने कहा कि बारामूला जिले के रफियाबाद इलाके के कफरनार घास के मैदान में बकरवाल परिवार के चार लोग मृत पाए गए।
पुलिस के अनुसार, इस परिवार के छह सदस्यों में से चार मृत पाए गए, जबकि एक जीवित पाया गया और एक अभी भी लापता है। रिपोटरें से पता चलता है कि परिवार बड़े पैमाने पर बादल फटने की चपेट में आ गया था। परिवार राजौरी जिले के हाजी बशीर अहमद खारी से संबद्ध था। बादल फटने से परिवार बह गया था।उप महानिरीक्षक (उत्तरी कश्मीर) सुजीत कुमार ने कहा, बचाव दल लापता व्यक्ति की तलाश कर रहे हैं, जिसके मलबे में दबे होने की आशंका है। बादल फटने से अचानक बाढ़ आ गई, जिससे धान के खेत और कुछ सरकारी इमारतें डूब गईं, जिनमें रफियाबाद क्षेत्र के वाटरगाम गांव के स्कूल भी शामिल हैं।

जम्मू: आतंकियों ने पुलिस पार्टी पर अटैक किया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर के खानयार इलाके में आतंकवादियों ने रविवार को पुलिस पार्टी पर अटैक कर दिया। हमले में एक पुलिस इंस्पेक्टर अरशद को कई गोलियां लगी हैं। 
जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। इलाज के दौरान अरशद शहीद हो गए। जानकारी के अनुसान आंतकी हमला होने के बाद पुलिस ने पूरे इलाके को घेरकर सर्च अभियान शुरू कर दिया है।

शनिवार, 11 सितंबर 2021

कार के नहर में गिरने से परिवार के 4 लोगों की मौंत

श्रीनगर। जम्मू शहर के बाहरी छोर पर मिरान साहिब इलाके में एक कार के नहर में गिर जाने से एक ही परिवार के चार लोगों की मौत हो गयी। मृतकों में दो बच्चे भी शामिल हैं।पुलिस सूत्रों ने बताया कि दुर्घटना शुक्रवार की देर रात उस समय हुई , जब एक कार सतवाडी से बहादुरपुर,अरनिया जा रही थी। कार में आठ लोग सवार थे। इसी दौरान मिरान साहिब के समीप एक छोटे पुल से गुजरते समय कार नहर में गिर गयी।

मृतकों की पहचान केवल कृष्ण(60), सुरजीत कुमारी(52) , मानसी(2) और दो माह की प्रांशी के रूप में की गयी है। कार में सवार अन्य गणेश कुमार , कंचन, मीनू कुमारी और सुशांत को बचा लिया गया है।

शुक्रवार, 10 सितंबर 2021

सीआरपीएफ के 1 जवान सहित 2 लोग घायल हुए

श्रीनगर। श्रीनगर के चानापोरा इलाके में शुक्रवार को आतंकवादियों द्वारा सुरक्षा बलों पर हथगोले से किए गए हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के एक जवान सहित दो लोग घायल हो गए। 
अधिकारियों ने बताया कि आतंकवादियों ने यहां सरकारी आवासीय क्वार्टरों के पास सुरक्षा बलों पर हथगोला फेंका। उन्होंने बताया कि धमाके में सीआरपीएफ के जवान के अलावा एक महिला घायल हो गई।

मंगलवार, 7 सितंबर 2021

सुरक्षाबल के वाहनों की तस्वीरें ट्विटर पर साझा कीं

श्रीनगर। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को दावा किया कि उन्हें नजरबंद कर दिया गया है और कहा कि इस कदम से सरकार के स्थिति सामान्य होने के दावों की सच्चाई सामने आ गई है। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने गुपकर स्थित अपने आवास के मुख्य द्वार के बाहर खड़े सुरक्षा बल के वाहनों की तस्वीरें ट्विटर पर साझा कीं।उन्होंने लिखा, ” मुझे आज नजरबंद कर दिया गया क्योंकि प्रशासन के अनुसार कश्मीर में स्थिति अभी तक सामान्य है। स्थिति सामान्य होने के दावों की सच्चाई सामने आ गई है।” उन्होंने केन्द्र पर यह भी आरोप लगाया कि जहां भारत सरकार अफगानिस्तान में लोगों के अधिकारों के लिए चिंता व्यक्त कर रही है, वहीं कश्मीरियों को इससे वंचित रखा गया है। पीडीपी की नेता ने कहा, ” भारत सरकार ने अफगान लोगों के अधिकारों को लेकर चिंता व्यक्त की है, लेकिन जानबूझ कर कश्मीरियों को इससे वंचित रख रही है।”

सोमवार, 6 सितंबर 2021

टीएसपी वॉयस कॉल और ब्रॉडबैंड को बहाल किया

श्रीनगर। कश्मीर घाटी में सोमवार को पांचवें दिन भी भारत संचार निगम लिमिटेड बीएसएनएल सहित सभी सेल्युलर कंपनियों की मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद रही। अधिकारियों ने दो दिन बाद यहां शुक्रवार रात सभी टीएसपी वॉयस कॉल और ब्रॉडबैंड को बहाल कर दिया था।
श्रीनगर के बाहरी इलाके हैदरपोरा स्थित आवास पर अलगावादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के निधन के बाद बुधवार रात से एहतियातन बीएसएनएल के अलावा सभी कंपनियों की इंटरनेट और मोबाइल सेवा बंद कर दी गयी थी।
घाटी में शुक्रवार रात सभी टीएसपी की वॉयस कॉल और ब्रॉडबैंड सेवाएं बहाल कर दी गईं। घाटी में हालांकि बीएसएनएल का ब्रॉडबैंड बिना किसी रोक-टोक के काम कर रहा था।
अधिकारियों ने बताया कि शांतिपूर्ण स्थिति को देखते हुए शुक्रवार रात सभी टीएसपी की मोबाइल सेवा वॉयस कॉल और ब्रॉडबैंड सेवायें बहाल कर दी गयीं। उन्होंने कहा कि बीएसएनएल की मोबाइल सेवा (वॉयस कॉल) और ब्रॉडबैंड सेवाएं कभी बंद नहीं हुईं। उन्होंने कहा कि हालांकि एहतियातन मोबाइल फोन पर इंटरनेट बंद किया गया है।

शनिवार, 4 सितंबर 2021

लोगों के एकत्रित होने पर लगाई गई पाबंदी जारी

श्रीनगर। अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के निधन के बाद कश्मीर घाटी के ज्यादातर हिस्सों में लोगों के एकत्रित होने पर लगाई गई पाबंदी जारी है। वहीं मोबाइल इंटरनेट सेवाएं शनिवार सुबह फिर बंद कर दी गयीं। गत रात को इंटरनेट सेवाएं बहाल की गयी थी। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
गिलानी (91) का लंबी बीमारी के बाद बुधवार रात को यहां उनके आवास में निधन हो गया था। जम्मू कश्मीर में तीन दशक से अधिक समय तक अलगाववादी मुहिम का नेतृत्व करने वाले और पाकिस्तान समर्थक अलगाववादी नेता को उनके आवास के समीप एक मस्जिद में सुपुर्द-ए-खाक किया गया। उनके निधन के बाद घाटी में एहतियात के तौर पर पाबंदियां लगायी गयीं।
अधिकारियों ने बताया कि घाटी के ज्यादातर हिस्सों में लोगों के एकत्रित होने पर पाबंदियां लगी हुई हैं लेकिन कुछ हिस्सों में लोगों की आवाजाही में ढील दी गयी है। श्रीनगर के पुराने इलाके और हैदरपुरा में पाबंदियां जारी हैं। गिलानी हैदरपुरा के रहने वाले थे।
उन्होंने बताया कि यहां हैदरपुरा इलाके में गिलानी के आवास तक जाने वाली सड़कें बंद हैं और लोगों की आवाजाही को रोकने के लिए अवरोधक लगाए गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि कानून एवं व्यवस्था को बनाए रखने के लिए बड़ी तादाद में सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। इंटरनेट सेवाओं और मोबाइल टेलीफोन सेवाओं को दो दिन तक बंद रखने के बाद शुक्रवार रात को बहाल किया गया। हालांकि मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को शनिवार सुबह फिर से बंद कर दिया गया।

शनिवार, 28 अगस्त 2021

कश्मीर घाटी में आतंकवाद समाप्त होने की उम्मीद

श्रीनगर। नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने कश्मीर घाटी में आतंकवाद जल्द समाप्त होने की उम्मीद जताई है। अब्दुल्ला ने शुक्रवार को गांदेरबल जिले के पर्यटक स्थल सोनमर्ग में ‘सुरक्षा और ऊर्जा’ पर दो दिवसीय कार्यक्रम के समापन के दौरान कहा कि आतंकवाद शीघ्र समाप्त हो जाएगा। भरोसा रखिए। हमें बचे रहना है और हमें देश को बचाए रखना है।
आतंकवाद के कारण जम्मू कश्मीर आने में लोगों में भय के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यमराज तो हर कहीं है।” उन्होंने कहा,” यद्यपि जम्मू कश्मीर ‘धरती पर स्वर्ग’ है, तब भी लोग इस क्षेत्र की यात्रा करने से डरते हैं। हिंसा और आतंकवाद के कारण उन्हें इस बात का इत्मिनान नहीं है कि वे घर जिंदा वापस लौट भी पाएंगे अथवा नहीं। लेकिन मैं खुश हूं कि आप (आगंतुक) आए, आप ने यहां आने का निश्चय किया।
जब आप वापस जाएं तो आपने जो देखा उसे अपने मित्रों को बताएं। श्रीनगर लोकसभा सीट से सांसद अब्दुल्ला ने कहा कि वह एक नया भारत देखना चाहते हैं, ऐसा भारत जो सभी के लिए हो। उन्होंने कहा, ”भगवान न तो मंदिर में हैं और न ही मस्जिद में। भगवान, अल्लाह हम सबमें हैं। यह हम सब की हार्दिक इच्छा है कि हम साथ रहें और साथ में तरक्की करें। हमने ऐसा देश बनाया है जो सबके साथ खड़ा है।

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता ने कहा कि कोविड-19 ने अमेरिका जैसे देशों को तबाह कर दिया लेकिन भारत गरीबी के बावजूद इससे अच्छे से निपटा। उन्होंने कहा कि हमारे वैज्ञानिक और चिकित्सा समुदाय ने देश को गौरवान्वित किया।” अब्दुल्ला ने कहा कि सोनमर्ग जैसी जगहों पर सुरंगों के निर्माण से लोगों के लिए सर्दियों में भी ऐसे क्षेत्रों की यात्रा करने का मार्ग प्रशस्त होगा और शीतकालीन खेलों के लिए मार्ग खुलेगा। 
उन्होंने कहा कि हम जम्मू कश्मीर में कुछ अहम सुरंगों का निर्माण कर रहे हैं। इसका एक हिस्सा इन सर्दियों में खुलने जा रहा है। यह लोगों के लिए सर्दियों में भी इस क्षेत्र की यात्रा करने का मार्ग प्रशस्त करेगा, जो अब तक मुश्किल था। ये सुरंगें शीतकालीन खेलों के लिए भी अवसर पैदा करेंगी। इससे हमें ओलंपिक में अपने पदकों की संख्या में सुधार करने में मदद मिल सकती है। कई छोटे देश हमसे ज्यादा पदक जीतते हैं। हमें सुरंगों की जरूरत है। ये न सिर्फ सर्दियों में यात्रा सभंव करने के लिए महत्वपूर्ण हैं, बल्कि हमारी सेना के लिए भी महत्वपूर्ण हैं।

शुक्रवार, 27 अगस्त 2021

मलविंदर ने प्रमुख सिद्धू के सलाहकार का पद छोड़ा

श्रीनगर। कश्मीर पर अपनी विवादित टिप्पणियों को लेकर आलोचनाओं से घिरे मलविंदर सिंह माली ने शुक्रवार को पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार का पद छोड़ दिया। हालांकि, माली ने इसे ‘इस्तीफा’ नहीं कहा। 
माली ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट किए गए एक बयान में कहा, ”मैं विनम्रतापूर्वक कहता हूं कि मैं नवजोत सिंह सिद्धू को सुझाव देने के लिए दी गई अपनी सहमति वापस लेता हूं।” माली ने एक अन्य फेसबुक पोस्ट में दावा किया कि उनके इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता क्योंकि उन्होंने कभी इस पद को स्वीकार नहीं किया था।
उन्होंने पंजाबी में किये गए एक पोस्ट में कहा, ”न तो कोई पद स्वीकार किया था और न ही किसी पद से इस्तीफा दिया है।” पंजाब में सत्ता संघर्ष के बीच मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने रविवार को सिद्धू से कहा था कि वह अपने सलाहकारों को काबू में रखें। सिंह ने यह बात सिद्धू के दो सलाहकारों द्वारा कश्मीर और पाकिस्तान जैसे संवेदनशील मुद्दों पर ”बेतुकी” टिप्पणी के बाद कही थी।
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत ने भी कहा था कि दोनों सलाहकारों को जाने की जरूरत है। सिद्धू ने 11 अगस्त को पूर्व सरकारी शिक्षक एवं राजनीतिक विश्लेषक माली और बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ एंड साइंसेज के पूर्व रजिस्ट्रार प्यारे लाल गर्ग को अपना सलाहकार नियुक्त किया था।
माली ने हाल ही में एक सोशल मीडिया पोस्ट में संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द करने के मुद्दे पर बात की थी, जिसके तहत तत्कालीन राज्य जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्राप्त था। उन्होंने कथित तौर पर कहा था कि यदि कश्मीर भारत का हिस्सा था तो अनुच्छेद 370 और 35ए की क्या जरूरत थी।
उन्होंने यह भी कहा था, ”कश्मीर कश्मीरी लोगों का देश है।” सिद्धू के एक अन्य सलाहकार गर्ग ने मुख्यमंत्री द्वारा पाकिस्तान की आलोचना किये जाने पर कथित तौर पर सवाल उठाया था। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने ”ऐसी आपत्तिजनक और बेतुकी टिप्पणियों को लेकर आगाह किया था जो राज्य और देश की शांति व स्थिरता के लिए संभावित रूप से खतरनाक हैं।

मंगलवार, 24 अगस्त 2021

सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 1 आतंकी मारा गया

बारामूला। जम्मू-कश्मीर के सोपोर जिले में मंगलवार को सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ में एक अज्ञात आतंकवादी मारा गया। अधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी खुफिया सूचना पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी), 52 राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर) और केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने सोमवार रात बारामूला जिले के सोपोर के पेठसीर में एक संयुक्त घेराबंदी और तलाशी अभियान (कासो) शुरू किया।
सुरक्षाबलों ने बाहर जाने वाले सभी रास्तो को सील कर घर-घर तलाशी शुरू की। जब सुरक्षा बल किसी विशेष इलाके की ओर बढ़ रहे थे तो वहां छिपे आतंकवादियों ने तड़के उन पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की।
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मुठभेड़ में अब तक एक आतंकवादी मारा गया है और अभियान जारी है। लगातार हो रही गोलीबारी के कारण आतंकवादी का शव बरामद नहीं हुआ है। कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए आस-पास के इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।

सोमवार, 23 अगस्त 2021

महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर विवादित बयान दिया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री एवं पीडीपी सुप्रीमो महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। मुफ्ती ने  तालिबान के बहाने केंद्र पर निशाना साधा। मुफ्ती ने कहा, तालिबान ने अमेरिका को भागने पर मजबूर किया। हमारे सब्र का इम्तेहान मत लो। उन्होंने यहां तक कह दिया कि यदि आजादी के समय भाजपा होती तो आज कश्मीर भारत में नहीं होता। महबूबा मुफ्ती ने एक कार्यक्रम में तालिबान से तुलना करते हुए कहा, जिस वक्त यह बर्दाश्त का बांध टूट जाएगा, तब आप नहीं रहोगे, मिट जाओगे। पड़ोस (अफगानिस्तान) में देखो क्या हो रहा है। उनको भी वहां से बोरिया-बिस्तर लेकर वापस जाना पड़ा। आप के लिए मौका है अभी भी। जिस तरह वाजपेयी जी ने बातचीत शुरू की थी कश्मीर में,।बाहर भी (पाकिस्तान के साथ) और यहां भी। उसी तरह आप भी बातचीत का सिलसिला शुरू करो।

815 किलोमीटर की यात्रा पर पीएम मोदी का ध्यान

उधमपुर। फहीम नजीर शाह श्रीनगर से पैदल चलकर दिल्ली जा रहे हैं। इस उम्मीद में कि उनकी करीब 815 किलोमीटर की यात्रा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ध्यान जाएगा और उन्हें उनसे मिलने का मौका मिलेगा। जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में इलेक्ट्रीशियन के रूप में काम करने वाले 28 वर्षीय फहीम नजीर शाह ने कहा, ”मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बहुत बड़ा प्रशंसक हूं।
शाह 200 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय करने के बाद रविवार को उधमपुर पहुंचे। श्रीनगर के शालीमार इलाके के रहने वाले शाह दो दिन पहले शुरू हुई अपनी यात्रा के दौरान थोड़ी-थोड़ी देर का विराम लेकर यहां पहुंचे।
उन्होंने कहा कि इस कठिन यात्रा के अंत में प्रधानमंत्री से मिलने का उनका सपना पूरा हो जाएगा। शाह ने कहा, ” मैं उनसे (मोदी) मिलने के लिए पैदल दिल्ली जा रहा हूं और मुझे उम्मीद है कि मैं प्रधानमंत्री का ध्यान आकर्षित कर पाऊंगा। प्रधानमंत्री से मिलना मेरा सपना है।”
साथ ही कहा कि पूर्व में प्रधानमंत्री से मिलने के लिए किए गए उनके प्रयास सफल नहीं हुए। शाह ने कहा कि वह पिछले चार वर्षों से सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री को फॉलो कर रहे हैं और उनके भाषण और कार्यों ने ”मेरे दिल को छू लिया है।”
उन्होंने कहा, ” एक बार जब प्रधानमंत्री रैली में भाषण दे रहे थे, वह ‘अज़ान’ सुनकर अचानक रुक गए, इससे जनता चकित रह गई… हमारे प्रधानमंत्री के उस इशारे ने मेरे दिल को छू लिया और मैं उनका प्रशंसक बन गया।” जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने और 2019 में केंद्र शासित प्रदेश बनाने के बाद हुए बदलाव के बारे में पूछे जाने पर, शाह ने कहा कि बदलाव दिखाई दे रहा है क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी का ध्यान जम्मू-कश्मीर पर है।

शनिवार, 21 अगस्त 2021

सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 3 आतंकवादी मरें


श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में शनिवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी मारे गए।
पुलिस प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि पुलवामा में अवंतीपोरा के नागबेरन त्राल के वन क्षेत्र में आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया सूचना पर जम्मू-कश्मीर पुलिस, केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर) के विशेष अभियान समूह (एसओजी) ने शनिवार सुबह एक संयुक्त घेरा और तलाशी अभियान (कासो) शुरू किया।
उन्होंने बताया कि जंगल में घुसने के दौरान आतंकवादियों के सुरक्षाबलों पर हमला करने के बाद शुरु हुई मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी मारे गए है। कश्मीर क्षेत्र की पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि मुठभेड़ में मारे गए आतंकवादी प्रतिबंधित संगठन जैश-ए-मोहम्मद के है। वन क्षेत्र में तलाशी अभी भी जारी है।

मंगलवार, 17 अगस्त 2021

जुलूस कवर कर रहे पत्रकारों के समूह पर लाठीचार्ज

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने यहां मुहर्रम जुलूस कवर कर रहे पत्रकारों के एक समूह पर मंगलवार को लाठीचार्ज किया। पुलिस ने शहर के जहांगीर चौक पर मुहर्रम के 10 दिनों की शोक की अवधि के आठवें दिन जुलूस निकालने की कोशिश कर रहे कुछ शिया मुसलमानों को हिरासत में भी लिया। 
पत्रकारों ने बताया कि मीडियाकर्मी अपना पेशेवर कर्तव्य निभा रहे थे, तभी पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज कर दिया। इन मीडियाकर्मियों में अधिकतर फोटो एवं वीडियो पत्रकार थे। उन्होंने कहा कि पुलिसकर्मियों ने कुछ पत्रकारों को डंडों से पीटा और उनके उपकरणों को नुकसान पहुंचाया। इस घटना के वीडियो विभिन्न सोशल मीडिया मंचों पर अपलोड किए गए हैं।
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचा और पत्रकारों को भरोसा दिलाया कि मामले की जांच की जाएगी। इस बीच पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया, ”मीडिया अफगानिस्तान में पैदा हो रहे संकट और मानव त्रासदी पर घंटों बहस कर रहा है, लेकिन क्या वह कश्मीर में अपने ही समुदाय के उन सदस्यों के लिए आवाज उठाएगा, जिन्हें सुरक्षाबलों ने अपना काम करने पर आज बुरी तरह पीटा।

शनिवार, 14 अगस्त 2021

15 अगस्त से पहले सुरक्षा बलों को बड़ी कामयाबी

श्रीनगर। स्वतंत्रता दिवस से पहले सुरक्षा बलों को बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। दरअसल नेशनल हाइवे पर हमले की साजिश रच रहे एक पाकिस्तानी आतंकवादी के कुलगाम जिले में एक मुठभेड़ में आतंकी उस्मान को ढेर कर दिया है। वहीं किश्तवाड़ जिले से हिज्बुल मुजाहिदीन के एक आतंकवादी को गिरफ्तार भी किया गया है। अधिकारियों के मुताबिक कुछ दिन पहले आतंकवाद की राह पर निकले मुजम्मिल शाह को पुलिस, सेना और सीआरपीएफ के संयुक्त अभियान में पतिमुहल्ला पालमार के कुलना वन क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने उसके पास से एक ग्रेनेड, एक मैगजीन और एके-47 राइफल की 30 गोलियां बरामद की है। अधिकारियों के मुताबिक, डेक्चन थाने में एक प्राथमिकी दर्ज की गई है और मामले की जांच जारी है।

शुक्रवार, 13 अगस्त 2021

स्वतंत्रता दिवस समारोहों से पहले सुरक्षा बढ़ाईं गई

श्रीनगर। स्वतंत्रता दिवस समारोहों से पहले कश्मीर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है और सुरक्षा बल स्थिति की निगरानी के लिए ड्रोनों के इस्तेमाल समेत “तकनीकी निगरानी” की मदद ले रहे हैं। अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि समारोहों में किसी तरह की बाधा डालने की आतंकवादियों के किसी भी प्रयास को नाकाम करने के लिए पुलिस और अर्धसैनिक बलों को शहर के कई स्थानों और घाटी में हर जगह पर भारी संख्या में तैनात किया गया है।
अधिकारियों ने बताया कि घाटी में कई स्थानों पर वाहनों की औचक जांच और लोगों की तलाशी ली जा रही है, खासकर 15 अगस्त के कार्यक्रमों वाले स्थानों के आसपास। उन्होंने बताया कि मुख्य कार्यक्रम यहां शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में होगा और उपराज्यपाल मनोज सिन्हा कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक, विजय कुमार ने कहा कि घाटी में सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद है और सुरक्षा बल चौकन्ने हैं।
कुमार ने यहां संवाददाताओं को बताया, “लोगों की तलाशी, जांच और ड्रोन से निगरानी की जा रही है। हम तकनीकी निगरानी का इस्तेमाल कर रहे हैं। हम श्रीनगर समेत सभी जिलों में किसी अप्रिय घटना से मुक्त कार्यक्रम सुनिश्चित करेंगे।” उन्होंने कहा कि लोगों को डरना नहीं चाहिए और कार्यक्रमों में भाग लेना चाहिए।
आईजीपी ने कहा, “पाकिस्तान आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देकर लोगों को रोकने के लिए आतंकवादियों को हमेशा उकसाता रहता है। डरें नहीं, आपके सुरक्षा बल तैयार हैं और सुरक्षा मुहैया कराएंगे।” कुमार शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में संवाददाताओं से बात कर रहे थे जहां पूरी वर्दी में पूर्वाभ्यास चल रहा था। कार्यक्रम की अध्यक्षता कश्मीर के संभागीय आयुक्त, पांडुरंग के पोले ने की। अधिकारियों ने बताया कि पोले ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और मार्च पास्ट की सलामी ली।

सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में एक आतंकवादी को मारा

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में सुरक्षा बलों ने शुक्रवार को मुठभेड़ में एक आतंकवादी को मार गिराया। यह जानकारी पुलिस महानिरीक्ष विजय कुमार ने दी है। इस बीच यातायात पुलिस के एक अधिकारी ने यूनीवार्ता को बताया कि कुलगाम के मालपोर में गुरुवार से जारी मुठभेड़ की वजह से एहतियातन श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात को निलंबित कर दिया गया है।
विजय कुमार ने बताया कि आतंकवादियों ने कुलगाम जिला के मालपोरा, मीरबाजार में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के काफिल पर गुरुवार को हमला किया। इसके बाद सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई में गोलियां चलाईं, लेकिन आतंकवादी बच निकले और नजदीक की एक इमारत में घुस गए। बाद में सुरक्षा बलों के अतिरिक्त जवान मौके पर पहुंचे तथा इमारत को चारों ओर से घेर लिया।
उन्होंने बताया कि इमारत में लश्कर ए तैयबा के आतंकवादी छिपे हुए हैं। उन्होंने बताया कि सुरक्षा बलों के जवानों ने आज सुबह एक आतंकवादी मारा गिया। अंतिम सूचना मिलने तक अभियान जारी था। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बलों के दो जवान तथा कई नागरिक घायल हुए हैं। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ वाली जगह से दुकानदारों, महिलाओं तथा गैर स्थानीय श्रमिकों सहित 22 नागरिकों को सुरक्षित निकाल लिया गया है।

मंगलवार, 10 अगस्त 2021

2 लोगों को गिरफ्तार कर रैकेट का भंडाफोड़ किया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मंगलवार को पुंछ जिले में दो लोगों को गिरफ्तार कर हवाला रैकेट का भंडाफोड़ किया और 25.81 लाख रुपये बरामद किये।
पुलिस प्रवक्ता ने यहां बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर पुलिस ने भारतीय सेना के साथ आज सुबह नियंत्रण रेखा के पास मेंढर क्षेत्र के कांगा भ्रूटी गांव में विभिन्न स्थानों पर छापे मारे। सुरक्षा बलों ने इस दौरान 25,81,500 रुपये जब्त किये, जो आतंक के वित्तपोषण के लिए थी।
इस सिलसिले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।जिनकी पहचान कांगा के मोहम्मद शकील और कांगा भ्रूटी के मोहम्मद इलियास के रूप में की गयी है। उन्होंने बताया कि संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गयी है।

एमपी: परिजन ने मिट्टी का तेल डालकर लगाईं आग

मनोज सिंह ठाकुर       भोपाल। मध्य प्रदेश के सागर जिले के एक गांव में 25 वर्षीय युवक पर कथित तौर पर प्रेम प्रसंग के चलते युवती के परिजन ने मि...