जम्मू-कश्मीर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जम्मू-कश्मीर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 11 अक्तूबर 2021

जम्मू: जेसीओ सहित सेना के पांच जवान शहीद हुएं

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में आतंकवाद निरोधी अभियान में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच सोमवार को हुई मुठभेड़ में एक ‘जूनियर कमीशंड अधिकारी’ (जेसीओ) सहित सेना के पांच जवान शहीद हो गए। इस इलाके में तीन आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली थी। उसके बाद यह एनकाउंटर शुरू हुआ था। एनकाउंटर अभी भी जारी है।
वहीं, रक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद सुरनकोट में डीकेजी के पास एक गांव में तड़के एक अभियान शुरू किया गया। रक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद सुरनकोट में डीकेजी के पास एक गांव में तड़के एक अभियान शुरू किया गया।
आखिरी रिपोर्ट मिलने तक मुठभेड़ जारी थी। छिपे हुए आतंकवादियों के सुरक्षा बल पर गोलीबारी करने से एक जेसीओ और चार अन्य जवान घायल हो गए। सभी को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है।
अधिकारियों ने बताया कि भारी हथियारों के साथ आतंकवादियों के नियंत्रण रेखा पार कर चरमेर के जंगल में छुपे होने की खबर मिली थी। मौके पर अतिरिक्त बल को भेजा गया है, ताकि आतंकवादियों के निकलने के सभी रास्ते बंद किए जा सकें।

शनिवार, 9 अक्तूबर 2021

जम्मू-कश्मीर में पुलिस टीम पर आतंकी हमला हुआ

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में पुलिस टीम पर आतंकी हमला हुआ है। पुलिस के जवानों ने इस हमले का मुंहतोड़ जवाब देते हुए एक आतंकवादी को ढेर कर दिया है। मारा गया आतंकी लश्कर का बताया जा रहा है। पुलिस ने उसके पास से हथियार और गोला बारूद बरामद किया है। वहीं, श्रीनगर के मेथन इलाके में भी आतंकियों से सुरक्षाबलों की मुठभेड़ हुई है। इस बीच, कश्मीर की सुरक्षा को लेकर गृह मंत्री अमित शाह और उपराज्यपाल मनोज सिन्हा आज एक बैठक करने वाले हैं।
जानकारी के मुताबिक, श्रीनगर के नाटीपोरा में आतंकियों ने पुलिस टीम पर हमला  बोला। इसके जवाब में पुलिस की तरफ से की गई कार्रवाई में लश्कर का एक आतंकी ढेर हो गया। गए आतंकवादी के पास से मिले पहचान पत्र के अनुसार, उसकी पहचान प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े ट्रेन्ज़ शोपियां के आकिब बशीर कुमार के रूप में हुई है।
सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है और आतंकियों की तलाश की जा रही है। बता दें कि पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी घाटी की शांत फिजा को खराब करने में लगे हैं। हाल ही में श्रीनगर के ईदगाह इलाके में गुरुवार को आतंकवादियों ने एक महिला प्रिंसिपल सहित सरकारी स्कूल के दो टीचर्स की गोली मार कर हत्या कर दी। आतंकियों ने स्कूल के अंदर घुसकर सुपिंदर कौर (Supinder Kaur) की हत्या कर दी थी। सुपिंदर कौर अलोची बाग श्रीनगर निवासी आरपी सिंह की पत्नी थीं और एक सरकारी स्कूल की प्रिंसिपल थीं।
पिछले पांच दिनों में घाटी में सात नागरिकों की हत्या हुई है, जिनमें से 6 की हत्या शहर में हुई है। मृतकों में से चार लोग अल्पसंख्यक समुदाय से थे। जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह का कहना है कि आतंकी भय का माहौल बनाने और सदियों पुराने सांप्रदायिक सद्भाव को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे है। उन्होंने कहा कि दरिंदगी और दहशत का मेल है। सुरक्षा बल आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देते आए हैं और आगे भी देते रहेंगे।
 

गुरुवार, 7 अक्तूबर 2021

विद्यालय के 2 शिक्षकों की गोली मारकर हत्या की

श्रीनगर। श्रीनगर के ईदगाह इलाके में बृहस्पतिवार को आतंकवादियों ने एक महिला समेत सरकारी विद्यालय के दो शिक्षकों की गोली मार कर हत्या कर दी। पुलिस ने यह जानकारी दी। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ”पूर्वाह्न करीब सवा 11 बजे आंतकवादियों ने श्रीनगर जिले के संगम ईदगाह इलाके में दो शिक्षकों की गोली मारकर हत्या कर दी।” 
उन्होंने बताया कि इलाके की घेराबंदी कर हमलावरों की तलाश शुरू की गई है।

रविवार, 3 अक्तूबर 2021

हथियार व गोला-बारूद का 1 पैकेट बरामद किया

श्रीनगर। जम्मू के बाहरी इलाके में अंतरराष्ट्रीय सीमा के निकट फलियां मंडल क्षेत्र से शनिवार देर रात पुलिस ने ड्रोन की मदद से कुछ सामान गिराये जाने की एक संदिग्ध घटना के बाद हथियार और गोला-बारूद का एक पैकेट बरामद किया। विश्वसनीय सूत्रों ने रविवार को बताया कि ड्रोन से सामान गिराये जाने की संदिग्ध घटना आधी रात के करीब हुई।
सूत्रों ने बताया कि अलोरा मंडल गांव के कुछ ग्रामीण ड्रोन जैसी उड़ने वाली वस्तु की आवाज सुनकर जाग गये और उन्होंने पुलिस को सूचित किया, जिसके बाद पुलिस टीम घटनास्थल पर पहुंची। सूत्रों ने बताया कि पुलिस टीम ने पीले रंग की पॉलिथीन में रखा पैकेट जब्त कर लिया, जिसमें एक हैंडल लगा था, जो नायलॉन के धागे से बंधा हुआ था।
पैकेट में एक राइफल, तीन मैगजीन और 30 कारतूस सहित हथियार और गोला-बारूद मिले। गौरतलब है कि अरनिया सेक्टर में 23 अगस्त को तड़के अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास एक ड्रोन देखा गया था, जिस पर सीमा सुरक्षा बल के सतर्क जवानों ने फायरिंग की। गोलीबारी के बाद वह वापस पाकिस्तान की ओर उड़ गया।
जून में वायुसेना स्टेशन जम्मू पर हुए ड्रोन हमले के बाद से जम्मू-कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर ड्रोन देखे जाने के मामले बढ़ गये हैं। स्टेशन के उच्च सुरक्षा तकनीकी क्षेत्र में 26-27 जून की मध्यरात्रि में दो विस्फोट हुए थे जिसमें वायु सेना के दो जवान मामूली रूप से घायल हो गये थे। इसके बाद 23 जुलाई को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अखनूर सेक्टर के गुरा पट्टन इलाके में पांच किलो आईईडी ले जा रहे एक पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया था। गृह मंत्रालय (एमएचए) ने ड्रोन, पैराग्लाइडर, माइक्रोलाइट एयरक्राफ्ट, हॉट-एयर बैलून जैसे उप-पारंपरिक एरियल प्लेटफॉर्म से खतरों से निपटने के लिए तैयार की गयी मानक संचालन प्रक्रिया का सख्ती से पालने करने का आदेश दिया है।
जम्मू -कश्मीर में विभिन्न जिला प्रशासन ने पहले ही ड्रोन के इस्तेमाल, बिक्री और खरीद पर प्रतिबंध लगा दिया है, जबकि शादी समारोहों और अन्य कार्यक्रमों में फ्लाइंग मशीन का इस्तेमाल करने वालों को इसके इस्तेमाल से पहले अनुमति लेने का निर्देश दिया गया है।

जम्मू हवाईअड्डा: यात्रियों की संख्या में इजाफा हुआ

श्रीनगर। जम्मू हवाईअड्डे पर भार दंड (लोड पेनल्टी) समाप्त किए जाने के बाद यहां से यात्रियों की संख्या में उल्लेखनीय इजाफा हुआ है। इसका आशय है कि अब रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इस हवाईअड्डे पर एयरलाइंस अपनी पूरी क्षमता का इस्तेमाल कर सकती हैं। मामले की जानकारी रखने वाले अधिकारियों ने कहा कि 29 सितंबर को हवाईअड्डे से उड़ान पकड़ने वाले यात्रियों की संख्या 1,403 और आगमन वाले यात्रियों की संख्या 1,679 थी। 30 सितंबर को यह आंकड़ा क्रमश: 1,524 और 2,140 पर पहुंच गया। एक अक्टूबर को यात्रियों का ट्रैफिक और बढ़कर क्रमश: 1,953 और 2,748 पर पहुंच गया।
30 सितंबर से पहले भार दंड 30 प्रतिशत था, जिसका आशय यह है कि एयरलाइंस उड़ान में उपलब्ध सीटों में से सिर्फ 70 प्रतिशत के लिए बुकिंग कर सकती थीं। अधिकारियों ने बताया कि जम्मू हवाईअड्डे का नियंत्रण भारतीय वायुसेना के पास है।

भारतीय वायुसेना ने इस बारे में नोटम (नोटिस टू एयरमेन) जारी किया था जिसके बाद हवाईअड्डे पर 30 प्रतिशत भार दंड को समाप्त कर दिया गया। इसका आशय है कि अब एयरलाइंस अपनी 100 प्रतिशत क्षमता का इस्तेमाल कर सकती हैं, जिससे किरायों में कमी आएगी। फिलहाल जम्मू हवाईअड्डे पर प्रतिदिन विभिन्न शहरों से 35 उड़ानों का आगमन-प्रस्थान होता है। किसी हवाईअड्डे पर भार दंड हवाई पट्टी की लंबाई, उसकी गुणवत्ता के आधार पर लगाया जाता है।

शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2021

सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 1 आतंकवादी मारा

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में शुक्रवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक अज्ञात आतंकवादी मारा गया।
पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि शोपियां के रकहामा गांव मेंं आतंकवादियों के छिपे होने की खुफिया सूचना मिलने पर राष्ट्रीय राइफल्स, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह के जवानों ने आज तड़के संयुक्त घेराबंदी एवं तलाशी अभियान शुरू किया। उन्होंने बताया कि सुरक्षा बल के जवान सभी निकास मार्गों को सील करने के बाद जब गांव के एक विशेष क्षेत्र की ओर बढ़ रहे थे, तो वहां छिपे आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी शुरू कर दी।
सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गयी। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में अब तक एक आतंकवादी मारा गया है।
उन्होंने बताया कि यहां मिली अंतिम रिपोर्ट के मुताबिक अभियान अभी जारी है। उन्होंने बताया कि कानून-व्यवस्था संबंधी किसी भी समस्या से निपटने के लिए आसपास के इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।

बुधवार, 29 सितंबर 2021

सेना के जवानों ने शहर में 1 परिवार से मारपीट की

श्रीनगर। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने बुधवार को दावा किया कि उन्हें फिर से नजरबंद कर दिया गया। क्योंकि उनकी जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में जाने की योजना थी। पूर्व मुख्यमंत्री ने मंगलवार को आरोप लगाया था कि सेना के जवानों ने पुलवामा के त्राल शहर में एक परिवार से मारपीट की और एक महिला सदस्य को जख्मी कर दिया।मुफ्ती ने कहा कि वह बुधवार को परिवार से मिलने जाने वाली थीं। मुफ्ती ने ट्वीट किया, ”त्राल गांव में जाने की कोशिश करने के लिए आज फिर से मुझे फिर से नजरबंद कर दिया गया। इस गांव में सेना ने मारपीट की। यह कश्मीर की असली तस्वीर है। 
गणमान्य व्यक्तियों को भारत सरकार द्वारा तोड़े मरोड़े और निर्देशित पिकनिक टूर के बजाय यह दिखाया जाना चाहिए।पीडीपी प्रमुख ने गुपकर रोड पर उनके आवास के मुख्य द्वार को कथित तौर पर अवरुद्ध कर रहे, सुरक्षाबलों के एक वाहन की तस्वीर भी पोस्ट की। मुफ्ती ने मंगलवार को ट्वीट किया था, ”त्राल में यगवानी शिविर की सेना ने गत रात घरों को लूटा और एक परिवार की बेरहमी से पिटाई की। गंभीर चोटों के कारण एक बेटी को अस्पताल में भर्ती कराया गया। यह पहली बार नहीं है जब इस इलाके में, गांव के नागरिकों के साथ सेना ने मारपीट की है।

शुक्रवार, 24 सितंबर 2021

13 अधिकारियों के पदस्थापन का आदेश दिया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने घाटी के कई जिलों के पुलिस प्रमुखों सहित 13 पुलिस अधिकारियों के तबादलों एवं पदस्थापन का आदेश दिया है। बृहस्पतिवार देर रात को जारी एक आदेश में, कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों (एसपी) और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों के तबादले की जानकारी दी गई है।
भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी सुनील कुमार जो तैनाती के आदेश का इंतजार कर रहे थे, उन्हें उपलब्ध रिक्ति पर रेलवे, जम्मू-कश्मीर के एडीजीपी के पद पर तैनात किया गया है। पुलवामा के एसएसपी आशीष कुमार मिश्रा (आईपीएस) को अनंतनाग का एसएसपी तैनात किया गया है। अनंतनाग के एसएसपी के पद पर तैनात इम्तियाज हुसैन मीर को आईआरपी की आठवीं बटालियन का कमांडिंग ऑफिसर (सीओ) बनाया गया है।
आईपीएस निखिल बोरकर का अनंतनाग मुख्यालय के एएसपी से स्थानांतरित कर गांदेरबल का एसपी तैनात किया गया है। उन्होंने सुहैल मुनावर मीर की जगह ली है जिन्हें जम्मू-कश्मीर पुलिस की पांचवी बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर (सीओ) के तौर पर तैनात किया गया है। पदस्थापन के आदेश का इंतजार कर रहे रणधीर सिंह को आदेशानुसार कमांडेंट जनरल, होमगार्ड/नागरिक सुरक्षा/राज्य आपदा मोचन बल, जम्मू-कश्मीर के एसओ के पद पर तैनात किया गया है।
आईआर-तीसरी बटालियन के सीओ गुलाम जिलानी वानी का तबादला कर उन्हें एसएसपी, पुलवामा के पद पर तैनात किया गया है। आदेश में कहा गया है कि भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो के एसपी अल-ताहिर गिलानी को प्रतिनियुक्ति से वापस बुलाकर एसपी पश्चिम, श्रीनगर के रूप में तैनात किया गया है। इसमें कहा गया कि बारामूला के अतिरिक्त एसपी मुकेश कुमार कक्कड़ का तबादला कर दिया गया है और वे पुलिस मुख्यालय (पीएचक्यू) को रिपोर्ट करेंगे और आगे की पोस्टिंग का इंतजार करेंगे।

गुरुवार, 23 सितंबर 2021

आतंकियों के बीच मुठभेड़ में एक आतंकी मारा

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ में बृहस्पतिवार सुबह एक आतंकवादी मारा गया। अधिकारियों ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिलने के बाद सुरक्षा बलों ने जिले के जैनपुरा इलाके के काशवा गांव में घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया था।
उन्होंने बताया कि आतंकवादियों के सुरक्षा बलों पर गोलीबारी करने से अभियान मुठभेड़ में तब्दील हो गया। बल ने भी गोलीबारी का उचित जवाब दिया। अधिकारियों ने बताया कि अभी तक एक आतंकवादी मारा गया है और मुठभेड़ अब भी जारी है। आतंकवादी की पहचान अभी नहीं हो पाई है और न ही यह पता लगा है कि वह किस संगठन से जुड़ा था।


मंगलवार, 21 सितंबर 2021

जम्मू-कश्मीर: एनआईए ने 7 जगहों पर छापा मारा

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर से बड़ी खबर आ रही है। एनआईए ने सात जगहों पर छापा मारा है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार छापेमारी जम्मू कश्मीर के डोडा, किश्तवाड़, श्रीनगर, बारामूला के साथ साथ अनंतनाग में मारी गई है। खबर है कि छापेमारी के दौरान एनआईए की टीम ने मोहम्मद शाफी वानी को भी गिरफ्तार कर लिया है।
बता दें, 27 जून को जम्मू के वायु सेना स्टेशन दोहरा विस्फोट हुआ था। जिसके बाद जांच में सुरक्षा बलों को आईआईडी बरामद हुआ था इसके बाद से ही लगातार सुरक्षा बल ने जांच अभियान तेज कर दी थी।
जम्मू-कश्मीर  के उरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों के एक समूह द्वारा घुसपैठ की कोशिश के बाद इंटरनेट और मोबाइल फोन सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। सेना ने कहा कि पिछले 30 घंटे से अधिक समय से घुसपैठ रोधी अभियान जारी है।
अतिरिक्त सुरक्षा बलों को बुलाया गया है और एक बड़े क्षेत्र को घेर लिया गया है। सेना के मुताबिक इस साल घुसपैठ की यह दूसरी कोशिश है।
हालांकि सेना के एक वरिष्ठ कमांडर ने कहा कि इस साल कोई संघर्षविराम उल्लंघन नहीं हुआ है और न ही सीमा पार से कोई उकसावे की घटना हुई है। 15वीं कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने कहा, "इस साल कोई संघर्षविराम उल्लंघन नहीं हुआ।
उन्होंने कहा, "घुसपैठ पर, पिछले वर्षों के विपरीत, कुछ प्रयास हुए हैं। शायद ही कोई सफल प्रयास था। मेरी जानकारी के अनुसार घुसपैठ के केवल दो प्रयास सामने आए हैं। एक बांदीपुर में निष्प्रभावी किया गया था. दूसरे की तलाश कर रहे हैं।
उन्होंने कहा, "उरी में पिछले 24 घंटों से ऑपरेशन चल रहा है, जिसमें हमें लगा कि घुसपैठ की कोशिश की गई है। हम उनकी तलाश कर रहे हैं। क्या वे इस तरफ हैं या प्रयास करके वापस चले गए हैं। लेकिन हम काफी सतर्क हैं और हम सुनिश्चित करेंगे कि घुसपैठ कम से कम हो।

मंगलवार, 14 सितंबर 2021

आतंकियों द्वारा किये हमले में 4 नागरिक घायल हुए

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में मंगलवार को सुरक्षा बलों को निशाना बनाकर आतंकवादियों द्वारा किये गए एक ग्रेनेड हमले में कम से कम चार नागरिक घायल हो गए। यह जानकारी अधिकारियों ने दी। आतंकवादियों ने आज दोपहर में पुलवामा चौक पर सुरक्षा बलों के एक वाहन की ओर ग्रेनेड फेंका, लेकिन ग्रेनेड सड़क किनारे फट गया। 
अधिकारियों ने बताया कि घायलों को अस्पताल ले जाया गया है, जबकि सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर दी है। कश्मीर में हाल के दिनों में आतंकियों के ग्रेनेड हमले बढ़ गए हैं। पिछले सप्ताह शहर के चनापोरा इलाके में एक ग्रेनेड हमले में दो महिलाओं सहित तीन लोग घायल हो गए थे। सुरक्षा बलों ने सोमवार को राष्ट्रीय राजमार्ग 44 के व्यस्त परिम्पिरा-पंथाचौक मार्ग पर आतंकवादियों द्वारा लगाए गए छह ग्रेनेड का पता लगाया था और उन्हें निष्क्रिय किया था।

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों द्वारा किया गया हमला

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में आतंकियों द्वारा हमला किया गया है। जिसमें तीन आम नागरिक जख्मी हो गए हैं। जानकारी के मुताबिक, हमले का निशाना पुलिस पार्टी को बनाया गया था। 
लेकिन हैंड ग्रेनेड सड़क पर ही फट गया जिससे तीन आम नागरिक जख्मी हो गए हैं। ये हमला पुलवामा के राजपोरा चौक के पास हुआ है। फिलहाल इलाके को खाली करा लिया गया है। वहां भारी संख्या में फोर्स तैनात है।


रविवार, 12 सितंबर 2021

बादल फटने की एक घटना में चार सदस्यों की मौंत

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में रविवार को बादल फटने की एक घटना में बकरवाल (घुमंतू समुदाय) परिवार के चार सदस्यों की मौत हो गई। पुलिस ने कहा कि बारामूला जिले के रफियाबाद इलाके के कफरनार घास के मैदान में बकरवाल परिवार के चार लोग मृत पाए गए।
पुलिस के अनुसार, इस परिवार के छह सदस्यों में से चार मृत पाए गए, जबकि एक जीवित पाया गया और एक अभी भी लापता है। रिपोटरें से पता चलता है कि परिवार बड़े पैमाने पर बादल फटने की चपेट में आ गया था। परिवार राजौरी जिले के हाजी बशीर अहमद खारी से संबद्ध था। बादल फटने से परिवार बह गया था।उप महानिरीक्षक (उत्तरी कश्मीर) सुजीत कुमार ने कहा, बचाव दल लापता व्यक्ति की तलाश कर रहे हैं, जिसके मलबे में दबे होने की आशंका है। बादल फटने से अचानक बाढ़ आ गई, जिससे धान के खेत और कुछ सरकारी इमारतें डूब गईं, जिनमें रफियाबाद क्षेत्र के वाटरगाम गांव के स्कूल भी शामिल हैं।

जम्मू: आतंकियों ने पुलिस पार्टी पर अटैक किया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर के खानयार इलाके में आतंकवादियों ने रविवार को पुलिस पार्टी पर अटैक कर दिया। हमले में एक पुलिस इंस्पेक्टर अरशद को कई गोलियां लगी हैं। 
जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। इलाज के दौरान अरशद शहीद हो गए। जानकारी के अनुसान आंतकी हमला होने के बाद पुलिस ने पूरे इलाके को घेरकर सर्च अभियान शुरू कर दिया है।

शनिवार, 11 सितंबर 2021

कार के नहर में गिरने से परिवार के 4 लोगों की मौंत

श्रीनगर। जम्मू शहर के बाहरी छोर पर मिरान साहिब इलाके में एक कार के नहर में गिर जाने से एक ही परिवार के चार लोगों की मौत हो गयी। मृतकों में दो बच्चे भी शामिल हैं।पुलिस सूत्रों ने बताया कि दुर्घटना शुक्रवार की देर रात उस समय हुई , जब एक कार सतवाडी से बहादुरपुर,अरनिया जा रही थी। कार में आठ लोग सवार थे। इसी दौरान मिरान साहिब के समीप एक छोटे पुल से गुजरते समय कार नहर में गिर गयी।

मृतकों की पहचान केवल कृष्ण(60), सुरजीत कुमारी(52) , मानसी(2) और दो माह की प्रांशी के रूप में की गयी है। कार में सवार अन्य गणेश कुमार , कंचन, मीनू कुमारी और सुशांत को बचा लिया गया है।

शुक्रवार, 10 सितंबर 2021

सीआरपीएफ के 1 जवान सहित 2 लोग घायल हुए

श्रीनगर। श्रीनगर के चानापोरा इलाके में शुक्रवार को आतंकवादियों द्वारा सुरक्षा बलों पर हथगोले से किए गए हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के एक जवान सहित दो लोग घायल हो गए। 
अधिकारियों ने बताया कि आतंकवादियों ने यहां सरकारी आवासीय क्वार्टरों के पास सुरक्षा बलों पर हथगोला फेंका। उन्होंने बताया कि धमाके में सीआरपीएफ के जवान के अलावा एक महिला घायल हो गई।

मंगलवार, 7 सितंबर 2021

सुरक्षाबल के वाहनों की तस्वीरें ट्विटर पर साझा कीं

श्रीनगर। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को दावा किया कि उन्हें नजरबंद कर दिया गया है और कहा कि इस कदम से सरकार के स्थिति सामान्य होने के दावों की सच्चाई सामने आ गई है। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने गुपकर स्थित अपने आवास के मुख्य द्वार के बाहर खड़े सुरक्षा बल के वाहनों की तस्वीरें ट्विटर पर साझा कीं।उन्होंने लिखा, ” मुझे आज नजरबंद कर दिया गया क्योंकि प्रशासन के अनुसार कश्मीर में स्थिति अभी तक सामान्य है। स्थिति सामान्य होने के दावों की सच्चाई सामने आ गई है।” उन्होंने केन्द्र पर यह भी आरोप लगाया कि जहां भारत सरकार अफगानिस्तान में लोगों के अधिकारों के लिए चिंता व्यक्त कर रही है, वहीं कश्मीरियों को इससे वंचित रखा गया है। पीडीपी की नेता ने कहा, ” भारत सरकार ने अफगान लोगों के अधिकारों को लेकर चिंता व्यक्त की है, लेकिन जानबूझ कर कश्मीरियों को इससे वंचित रख रही है।”

सोमवार, 6 सितंबर 2021

टीएसपी वॉयस कॉल और ब्रॉडबैंड को बहाल किया

श्रीनगर। कश्मीर घाटी में सोमवार को पांचवें दिन भी भारत संचार निगम लिमिटेड बीएसएनएल सहित सभी सेल्युलर कंपनियों की मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद रही। अधिकारियों ने दो दिन बाद यहां शुक्रवार रात सभी टीएसपी वॉयस कॉल और ब्रॉडबैंड को बहाल कर दिया था।
श्रीनगर के बाहरी इलाके हैदरपोरा स्थित आवास पर अलगावादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के निधन के बाद बुधवार रात से एहतियातन बीएसएनएल के अलावा सभी कंपनियों की इंटरनेट और मोबाइल सेवा बंद कर दी गयी थी।
घाटी में शुक्रवार रात सभी टीएसपी की वॉयस कॉल और ब्रॉडबैंड सेवाएं बहाल कर दी गईं। घाटी में हालांकि बीएसएनएल का ब्रॉडबैंड बिना किसी रोक-टोक के काम कर रहा था।
अधिकारियों ने बताया कि शांतिपूर्ण स्थिति को देखते हुए शुक्रवार रात सभी टीएसपी की मोबाइल सेवा वॉयस कॉल और ब्रॉडबैंड सेवायें बहाल कर दी गयीं। उन्होंने कहा कि बीएसएनएल की मोबाइल सेवा (वॉयस कॉल) और ब्रॉडबैंड सेवाएं कभी बंद नहीं हुईं। उन्होंने कहा कि हालांकि एहतियातन मोबाइल फोन पर इंटरनेट बंद किया गया है।

शनिवार, 4 सितंबर 2021

लोगों के एकत्रित होने पर लगाई गई पाबंदी जारी

श्रीनगर। अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के निधन के बाद कश्मीर घाटी के ज्यादातर हिस्सों में लोगों के एकत्रित होने पर लगाई गई पाबंदी जारी है। वहीं मोबाइल इंटरनेट सेवाएं शनिवार सुबह फिर बंद कर दी गयीं। गत रात को इंटरनेट सेवाएं बहाल की गयी थी। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
गिलानी (91) का लंबी बीमारी के बाद बुधवार रात को यहां उनके आवास में निधन हो गया था। जम्मू कश्मीर में तीन दशक से अधिक समय तक अलगाववादी मुहिम का नेतृत्व करने वाले और पाकिस्तान समर्थक अलगाववादी नेता को उनके आवास के समीप एक मस्जिद में सुपुर्द-ए-खाक किया गया। उनके निधन के बाद घाटी में एहतियात के तौर पर पाबंदियां लगायी गयीं।
अधिकारियों ने बताया कि घाटी के ज्यादातर हिस्सों में लोगों के एकत्रित होने पर पाबंदियां लगी हुई हैं लेकिन कुछ हिस्सों में लोगों की आवाजाही में ढील दी गयी है। श्रीनगर के पुराने इलाके और हैदरपुरा में पाबंदियां जारी हैं। गिलानी हैदरपुरा के रहने वाले थे।
उन्होंने बताया कि यहां हैदरपुरा इलाके में गिलानी के आवास तक जाने वाली सड़कें बंद हैं और लोगों की आवाजाही को रोकने के लिए अवरोधक लगाए गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि कानून एवं व्यवस्था को बनाए रखने के लिए बड़ी तादाद में सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। इंटरनेट सेवाओं और मोबाइल टेलीफोन सेवाओं को दो दिन तक बंद रखने के बाद शुक्रवार रात को बहाल किया गया। हालांकि मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को शनिवार सुबह फिर से बंद कर दिया गया।

शनिवार, 28 अगस्त 2021

कश्मीर घाटी में आतंकवाद समाप्त होने की उम्मीद

श्रीनगर। नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने कश्मीर घाटी में आतंकवाद जल्द समाप्त होने की उम्मीद जताई है। अब्दुल्ला ने शुक्रवार को गांदेरबल जिले के पर्यटक स्थल सोनमर्ग में ‘सुरक्षा और ऊर्जा’ पर दो दिवसीय कार्यक्रम के समापन के दौरान कहा कि आतंकवाद शीघ्र समाप्त हो जाएगा। भरोसा रखिए। हमें बचे रहना है और हमें देश को बचाए रखना है।
आतंकवाद के कारण जम्मू कश्मीर आने में लोगों में भय के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यमराज तो हर कहीं है।” उन्होंने कहा,” यद्यपि जम्मू कश्मीर ‘धरती पर स्वर्ग’ है, तब भी लोग इस क्षेत्र की यात्रा करने से डरते हैं। हिंसा और आतंकवाद के कारण उन्हें इस बात का इत्मिनान नहीं है कि वे घर जिंदा वापस लौट भी पाएंगे अथवा नहीं। लेकिन मैं खुश हूं कि आप (आगंतुक) आए, आप ने यहां आने का निश्चय किया।
जब आप वापस जाएं तो आपने जो देखा उसे अपने मित्रों को बताएं। श्रीनगर लोकसभा सीट से सांसद अब्दुल्ला ने कहा कि वह एक नया भारत देखना चाहते हैं, ऐसा भारत जो सभी के लिए हो। उन्होंने कहा, ”भगवान न तो मंदिर में हैं और न ही मस्जिद में। भगवान, अल्लाह हम सबमें हैं। यह हम सब की हार्दिक इच्छा है कि हम साथ रहें और साथ में तरक्की करें। हमने ऐसा देश बनाया है जो सबके साथ खड़ा है।

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता ने कहा कि कोविड-19 ने अमेरिका जैसे देशों को तबाह कर दिया लेकिन भारत गरीबी के बावजूद इससे अच्छे से निपटा। उन्होंने कहा कि हमारे वैज्ञानिक और चिकित्सा समुदाय ने देश को गौरवान्वित किया।” अब्दुल्ला ने कहा कि सोनमर्ग जैसी जगहों पर सुरंगों के निर्माण से लोगों के लिए सर्दियों में भी ऐसे क्षेत्रों की यात्रा करने का मार्ग प्रशस्त होगा और शीतकालीन खेलों के लिए मार्ग खुलेगा। 
उन्होंने कहा कि हम जम्मू कश्मीर में कुछ अहम सुरंगों का निर्माण कर रहे हैं। इसका एक हिस्सा इन सर्दियों में खुलने जा रहा है। यह लोगों के लिए सर्दियों में भी इस क्षेत्र की यात्रा करने का मार्ग प्रशस्त करेगा, जो अब तक मुश्किल था। ये सुरंगें शीतकालीन खेलों के लिए भी अवसर पैदा करेंगी। इससे हमें ओलंपिक में अपने पदकों की संख्या में सुधार करने में मदद मिल सकती है। कई छोटे देश हमसे ज्यादा पदक जीतते हैं। हमें सुरंगों की जरूरत है। ये न सिर्फ सर्दियों में यात्रा सभंव करने के लिए महत्वपूर्ण हैं, बल्कि हमारी सेना के लिए भी महत्वपूर्ण हैं।

डीएम खत्री ने पोलिंग बूथों का निरीक्षण किया: यूपी

डीएम खत्री ने पोलिंग बूथों का निरीक्षण किया: यूपी        बृजेश केसरवानी          प्रयागराज। जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी श्री संजय कुमार...