गुरुवार, 2 जुलाई 2020

एयर फोर्स को मजबूत करेगा 'राफेल'

हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली/पैरिस। दिप्रिंट को पता चला है कि भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध के बीच कम से कम चार राफेल लड़ाकू विमान 27 जुलाई को अंबाला में लैण्ड करने वाले हैं और अपेक्षित समय से पहले ही लड़ाई के लिए तैयार हो जाएंगे, क्योंकि फ्रांस ने अपने अत्याधुनिक मिसाइलों की वो शुरुआती खेप भारत को दे दी है, जो उसकी एयरफोर्स में जानी थी।


एक सूत्र ने बताया, ‘एयरक्राफ्ट की डिलीवरी के लिए भारत और फ्रांस के बीच 27 जुलाई की तारीख़ तय हुई है। चार विमान तो निश्चित रूप से आएंगे, जबकि कोशिश ये की जा रही है कि कुल 6 जेट्स आ जाएं। सूत्रों के अनुसार, इन जेट्स को अपेक्षित समय से पहले लड़ाई के काम में लगाया जा सकता है, चूंकि फ्रांस ने अपने कुछ सबसे आधुनिक मिसाइल्स – मीटियॉर और स्कैल्प- जो उसकी अपनी एयरफोर्स के लिए थे। भारत के राफेल जेट्स के लिए दे दिए हैं। पहले ये मिसाइल लड़ाकू जेट्स की डिलीवरी के कुछ महीनों के बाद दिए जाने थे। दिप्रिंट ने सबसे पहले 20 मार्च को ख़बर दी थी कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण राफेल फाइटर जेट्स की मई में होने वाली डिलीवरी में देरी हो सकती है। 14 अप्रैल को दिप्रिंट ने ख़बर दी कि ये डिलीवरी जुलाई में की जाएगी। दो मिड-एयर रीफ्यूलर्स के साथ यूएई के रास्ते आएंगे विमान
योजना के मुताबिक़ राफेल जेट्स फ्रांस के इस्त्रेस से उड़ान भरेंगे और यूएई में अबू धाबी के पास अल-धफरा के फ्रांसीसी हवाई ठिकाने पर उतरेंगे। वहां रात बिताने के बाद ये विमान हरियाणा के अंबाला के लिए निकलेंगे, जो इंडियन एयर फोर्स (आईएएफ) की 17वीं स्क्वॉड्रन ‘गोल्डन एरोज़’ का ठिकाना है। एक दूसरे सूत्र ने दिप्रिंट को बताया, ‘इन फाइटर्स को भारतीय पायलट्स उड़ाएंगे, जो सीधा 10 घंटे तक उड़ेंगे (अल धफरा तक) वो रात भर वहीं रुकेंगे और अगले दिन अंबाला के लिए निकल पड़ेंगे। सूत्रों ने बताया कि शुरूआती प्लान ये था कि ये विमान कई देशों में रुकते हुए आएंगे। लेकिन फिर कोविड महामारी का मतलब ये हुआ कि पायलट को हर बेस पर क्वारंटीन करना पड़ता। अब ये तय किया गया है कि फ्रेंच एयरबस के दो मिड-एयर रिफ्यूलर्स, जेट्स के साथ उड़ान भरेंगे। सूत्रों ने बताया कि यूएई के रास्ते में कम से कम दो बार मिड-एयर रीफ्यूलिंग की जाएगी। अगले दिन अंबाला की यात्रा के लिए भारत के मिड-एयर रीफ्यूलर्स उनके साथ हो जाएंगे। भारतीय वायु सेना के पायलट्स अभी फ्रांस में रीफ्यूलिंग की ट्रेनिंग ले रहे हैं. सूत्रों ने कहा कि ये पहले ट्रेनिंग का हिस्सा नहीं था।


फ्रांस ने अपने मिसाइल्स भारत को दिए
सूत्रों ने बताया कि सितम्बर 2016 में भारत और फ्रांस के बीच साइन किए गए समझौते में कहा गया था कि राफेल की डिलीवरी मई 2020 में की जाएगी और मुख्य हथियारों का पैकेज अक्तूबर में आएगा। लेकिन अनुरोध के बाद फ्रांस ने अपने वो मिसाइल्स भारत को दे दिए, जो उसकी अपनी एयर फोर्स को जाने थे। वो जल्दी आना शुरू हो गए हैं। इन मिसाइलों में बियॉण्ड विज़ुअल रेंज (बीवीआर) हवा से हवा में मार करने वाला और 120 किलोमीटर दूर के लक्ष्य को निशाना बनाने में सक्षम मिसाइल- मीटियॉर और लंबी दूरी का हवा से ज़मीन पर मार करने वाला क्रूज़ मिसाइ-स्कैल्प शामिल है, जो 600 किलोमीटर दूर के लक्ष्य को निशाना बना सकता है। एक दूसरे सूत्र ने बताया, ‘इसका मतलब है कि रफायल अपेक्षित समय से काफी पहले ही लड़ाई के लिए तैयार हो सकता है। मीटियॉर और स्कैल्प को पहले ही रफायल के साथ जोड़ दिया गया है, जो यहां आ रहे हैं। मीटियॉर को रफायल के वैपंस सिस्टम के साथ जोड़ने का मतलब है कि एक भारतीय रफायल विमान, भारतीय हवाई क्षेत्र को पार किए बिना ही 100 किलोमीटर दूर से किसी दुश्मन विमान को गिरा सकता है।


रूस पर भी चीन ने की अपनी दावेदारी

मास्को/ बीजिंग। भारत के साथ लद्दाख में सीमा विवाद बढ़ा रहे चीन ने अब रूस के शहर व्लादिवोस्तोक पर अपना दावा किया है। चीन के सरकारी समाचार चैनल सीजीटीएन के संपादक शेन सिवई ने दावा किया कि रूस का व्लादिवोस्तोक शहर 1860 से पहले चीन का हिस्सा था। इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि इस शहर को पहले हैशेनवाई के नाम से जाना जाता था जिसे रूस से एकतरफा संधि के तहत चीन से छीन लिया था। यूं तो चीन और रूस के बीच सैन्य संबंध अच्छे माने जाते रहे हैं लेकिन अब उसे लेकर ड्रैगन का रवैया रुखा होने लगा है। खासकर तब जब भारत और रूस के बीच सैन्य संबंध गहरा रहे हैं।
सीजीटीएन के संपादक की टिप्पणी इतनी अहम क्यों
चीन में जितने भी मीडिया संगठन हैं सभी सरकारी हैं। इसमें बैठे लोग चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के इशारे पर ही कुछ भी लिखते और बोलते हैं। कहा जाता है कि चीनी मीडिया में लिखी गई कोई भी बात वहां के सरकार के सोच को दर्शाती है। ऐसी स्थिति में शेन सिवई का ट्वीट अहम हो जाता है। हाल के दिनों में रूस के साथ चीन के संबंधों में खटास भी आई है। पनडुब्बी से जुड़ी सीक्रेट फाइल चुराने का आरोप
रूस ने कुछ दिन पहले ही चीन के खुफिया एजेंसी के ऊपर पनडुब्बी से जुड़ी टॉप सीक्रेट फाइल चुराने का आरोप लगाया था। इस मामल में रूस ने अपने एक नागरिक को गिरफ्तार भी किया था जिसपर देश द्रोह का आरोप लगाया गया है। आरोपी रूस की सरकार में बड़े ओहदे पर था जिसने इस फाइल को चीन को सौंपा था। चीन ने अब भूटान की नई जमीन पर किया दावा, वन्‍यजीव अभयारण्य की जमीन को बताया अपना


एशिया में किन-किन देशों को चीन से खतरा
एशिया में चीन की विस्तारवादी नीतियों से भारत को सबसे ज्यादा खतरा है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण लद्दाख में चीनी फौज के जमावड़े से मिल रहा है। इसके अलावा चीन और जापान में भी पूर्वी चीन सागर में स्थित द्वीपों को लेकर तनाव चरम पर है। हाल में ही जापान ने एक चीनी पनडुब्बी को अपने जलक्षेत्र से खदेड़ा था। चीन कई बार ताइवान पर भी खुलेआम सेना के प्रयोग की धमकी दे चुका है। इन दिनों चीनी फाइटर जेट्स ने भी कई बार ताइवान के हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया है। वहीं चीन का फिलीपींस, मलेशिया, इंडोनेशिया के साथ भी विवाद है।


रूस का बड़ा नौसैनिक अड्डा है व्लादिवोस्तोक
रूस का व्हादिवोस्तोक शहर प्रशांत महासागर में तैनात उसके बेड़े का प्रमुख बेस है। रूस के उत्तर पूर्व में स्थित यह शहर प्रिमोर्स्की क्राय राज्य की राजधानी है। यह शहर चीन और उत्तर कोरिया की सीमा के नजदीक स्थित है। व्यापारिक और ऐतिहासिक रूप से व्लादिवोस्तोक रूस का सबसे अहम शहर है। रूस से होने वाले व्यापार का अधिकांश हिस्सा इसी पोर्ट से होकर जाता है। द्वितीय विश्व युद्ध मे भी यहां जर्मनी और रूस की सेनाओं के बीच भीषण युद्ध लड़ा गया था।         


मुझे आलोचनाएं विचलित नहीं करती

मुंबई। अभिनेत्री-फिल्मकार पूजा भट्ट का कहना है कि आलोचनायें उन्हें विचलित नहीं करती है। पूजा भट्ट सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं। वह अपनी फिल्मों के साथ-साथ अपने बेबाक विचारों के लिए भी खूब जानी जाती हैं। पूजा भट्ट ने सोशल मीडिया पर एक फोटो शेयर की है, जो खूब वायरल हो रही है। पूजा भट्ट की फोटो के साथ-साथ उनके कैप्शन ने भी लोगों का खूब ध्यान खींचा। अपनी फोटो को शेयर करते हुए पूजा भट्ट ने लिखा, “आलोचनाएं मुझे विचलित नहीं करती हैं। मैं 90 के दशक की शुरुआत से ही आलोचकों के निशाने पर रही हूं।” पूजा भट्ट जल्द ही फिल्म सड़क 2 में नजर आएंगी। इस फिल्म में उनके साथ आलिया भट्ट, संजय दत्त और आदित्य रॉय कपूर मुख्य भूमिका निभाते नजर आएंगे। यह फिल्म डिजनी-हॉटस्टार पर रिलीज होने वाली है। 


चीन के लिए गुस्सा बढता रहेगाः ट्रंप

चीन के लिए मेरा गुस्सा बढ़ता जाएगा : ट्रंप


वाशिंगटन डीसी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने महामारी को लेकर चीन पर फिर से तीखा हमला किया। उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे मैं दुनिया भर में महामारी को फैलते देख रहा हूं, वैसे-वैसे चीन के प्रति मेरा गुस्सा बढ़ता जा रहा है। जैसे जैसे कोरोना फैलता जाएगा मेरा गुस्सा भी बढ़ता जाएगा। ट्रंप ने टुल्सा, ओकलाहोमा में अपनी पहली चुनाव अभियान रैली के दौरान भी कहा कि मैं चीन से बेहद नाराज हूं।


गलत जानकारी न फैलाएं : संयुक्त राष्ट्रः यूएन प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा कि हमने बुधवार को ‘पॉज’ नाम के अभियान की शुरुआत की है, जिसमें लोगों से सोशल मीडिया पर कोरोना को लेकर भ्रामक और गलत जानकारी नहीं फैलाने का आग्रह किया गया है। सोशल मीडिया दिवस के दिन इस अभियान की शुरुआत की गई है। 


हॉन्गकॉन्ग से संबधित प्रतिबंध को मंजूरी

लंदन/ वाशिंगटन डीसी। हॉन्गकॉन्ग में राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून लागू करने के चीन के फ़ैसले की कई देश आलोचना कर रहे हैं। ब्रिटेन ने जहाँ हॉन्गकॉन्ग के 30 लाख लोगों को ब्रिटेन में बसने का प्रस्ताव दे दिया है, वहीं अमरीका की प्रतिनिधि सभा ने हॉन्गकॉन्ग से संबंधित नए प्रतिबंधों को मंज़ूरी दी है। प्रतिनिधि सभा में सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव में कहा गया है कि चीन के अधिकारियों के साथ जो भी बैंक बिजनेस करेंगे, उन पर जुर्माना लगाया जाएगा। राष्ट्रपति ट्रंप के पास जाने से पहले इस प्रस्ताव का सीनेट से पास होना आवश्यक है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इसकी घोषणा की है।उन्होंने कहा कि नए सुरक्षा क़ानन से हॉन्गकॉन्ग की स्वतंत्रता का उल्लंघन हो रहा है। उन्होंने कहा कि इससे प्रभावित लोगों को ब्रिटेन आने का प्रस्ताव दिया जाएगा। हॉन्गकॉन्ग पहले ब्रिटेन का उपनिवेश था। लेकिन चीन ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया जताई है। ब्रिटेन में चीन के राजदूत ने कहा है कि ब्रिटेन को इसका कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन के इस क़दम को रोकने के लिए चीन ज़रूरी क़दम उठाएगा।


चीन के राजदूत लियू शियाओमिंग ने कहा कि ये दोनों देशों के बीच हुए समझौते का उल्लंघन है। उन्होंने नए सुरक्षा क़ानून को लेकर ब्रिटेन की आलोचना को ग़ैर ज़िम्मेदार और ग़ैर ज़रूरी बताया है। क्या है ब्रिटेन का फ़ैसलाः दूसरी ओर ब्रिटेन के नए फ़ैसले के बाद क़रीब साढ़े तीन लाख ब्रिटिश पासपोर्टधारी और क़रीब 26 लाख अन्य लोग पाँच साल के लिए ब्रिटेन आ सकते हैं। इसके एक साल बाद यानी छह साल पूरे होने पर वे ब्रितानी नागरिकता के लिए आवेदन भी कर सकते हैं।


नियम के विरूद्ध, रोज लाखों की मौत

ब्राजील/ वाशिंगटन डीसी। दुनिया भर में कोरोना के अब तक एक करोड़ सात लाख 56 हजार से भी ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जबकि कुल 5.17 लाख से अधिक लोग जान गंवा चुके हैं। इसके साथ ही अब तक 5,912,138 मरीज ठीक भी हुए हैं। 


इधर, अमेरिका में बाजार खुलने के बाद हालात फिर खराब हुए हैं। देश के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फौसी ने चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि स्वास्थ्य नियमों का पालन नहीं हुआ तो अमेरिका में एक दिन के भीतर एक लाख मामले भी सामने आ सकते हैं। बता दें कि अमेरिका और ब्राजील इस वक्त दुनिया में संक्रमण के सबसे बड़े केंद्र हैं। फौसी ने कहा हर दिन करीब 40 हजार से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं, मुझे कोई हैरानी नहीं होगी यदि एक दिन में एक लाख मामले सामने आने लगें। उन्होंने यह बयान सीनेट में स्कूल और कार्यस्थलों को दोबारा खोलने पर हुई सुनवाई के दौरान दिया। कुछ राज्यों में दोबारा मामले बढ़ने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘यदि सटीक पूर्वानुमान नहीं लगाया गया तो यह ‘बेहद भयावह’ होगा और इसलिए मैं काफी चिंतित भी हूं।’  उधर, ब्राजील में पिछले 24 घंटे में 33,846 मामले सामने आए हैं। यहां कुल संक्रमितों की संख्या 14.08 लाख के पार हो गई है। देश में पिछले 24 घंटे में 1,280 लोगों की मौत के साथ ही यहां कुल मृतक संख्या 59 हजार के हो गई है। ब्राजील दुनियाभर में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में दूसरे नंबर पर है।


महाराणा ब्रांड शराब से भारी नाराजगी

शोशल मीडिया पर देशी शराब महाराणा ब्रांड के नाम को लेकर लोगों में भारी नाराजगी।


रतन सिंह चौहान
होडल पलवल। आजकल सहारनपुर उत्तर प्रदेश मे निर्मित देशी शराब महाराणा ब्रांड शोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना है । उक्त ब्रांड के नाम को लेकर जंग छिड़  गई है हिन्दू संघठनो ने तो इसे मुद्दा बना लिया है। इसकी चौतरफा निंदा की जा रही है । राजपूत समाज तो उक्त मामले को लेकर कुछ बड़ा करने की तैयारी में हे ! करणी सेना ने योगी सरकार से महाराणा के नाम से बिक रही शराब पर तत्काल प्रतिबंध लगाने की मांग की है।
उल्लेखनीय है कि सहारनपुर यूपी के युसुफपुर रोड टपरी  में को ऑपरेटिव कम्पनी लिमिटेड नामक लीकर फैक्ट्री में महाराणा नाम से देशी शराब का निर्माण किया जाता है। उक्त ब्रांड की बोतल शोशल मीडिया में वायरल कर दिया गया है ।शोशल मीडिया में वायरल होने के बाद यह लोगों में बहस का मुद्दा बन गया है। लोग उक्त मामले में तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करने लगे हैं। जीतेन्द्र राजपूत ने कहा कि सरकार को किसी भी मादक पदार्थो पर महापुरुषों के नाम व फोटो लगाने की मंजूरी नहीं देनी चाहिए जिससे किसी भी समुदाय के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचे। 
अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हरेंद्र पाल सिंह राणा ने उक्त मामले को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया  करते हुए कहा महाराणा प्रताप एक महान योद्धा थे उन्होंने देश और समाज के लिए अपना जीवन न्यौछावर कर दिया है ऐसे महापुरुषों के नाम पर इस तरह के मादक पदार्थों का नाम रखना क्षत्रिय समाज पर कुठाराघात है योगी सरकार को उक्त मामले की संज्ञान लेते हुए सख्त कार्रवाई करने की जरूरत है
राष्ट्रीय बजरंग दल के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष मुनीष भारद्वाज ने कहा कि यह सब एक साज़िश के तहत हिंदुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार इस मामले पर स्वयं संज्ञान लेते हुए कार्यवाही करें अन्यथा मामले को लेकर आंदोलन किया जाएगा। शेर सिंह रावत (बहीन) ने योगी सरकार सख्त कदम उठाने की मांग की है।             


मोबाइल वैन जागरूकता शिविर आयोजन

प्राधिकरण के तत्वावधान में मोबाईल वैन जागरूकता अभियान के अन्तर्गत विशेष कानूनी जागरूकता शिविर आयोजित


रतन सिंह
 होडल पलवल । जिला विधिक सेवाएँ प्राधिकरण के तत्वावधान में जिला एवं सत्र न्यायाधीश एंव चेयरमेन श्री चंद्रशेखर व मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एंव सचिव श्री पीयूष शर्मा के मार्गदर्शन में आज गांव दुर्गापुर पलवल में मोबाईल वैन जागरूकता अभियान के अन्तर्गत विशेष कानूनी जागरूकता शिविर का आयोजन पैनल अधिवक्ता जगत सिंह रावत द्वारा किया गया।               


उन्होंने कोविड - 19 कोरोना महामारी की रोकथाम के उपायों, जारी सरकारी वित्तीय निर्देशों के बारे में जागरूक किया। उन्होंने मौलिक कर्तव्यों, मध्यस्थता प्रक्रिया, लोक अदालत का महत्व, नालसा योजनाओं, पर्यावरण संरक्षण विधियों के बारे में भी जानकारी प्रदान की । उन्होंने ग्रामीणों को विशेष रूप से बताया कि कोरोना को फैलने से रोका जा सकता है, जिसके लिए हर नागरिक को अपने मौलिक कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए, हमें बार-बार साबुन से हाथ साफ करने, सामाजिक दूरी बनाए रखने, हुक्का सांझा ना करने, ताश ना खेलने, बाहर निकलने पर मास्क का प्रयोग, बच्चे, बुजुर्गों व गर्भवती महिलाओं को चिकित्सीय कारण को छोडकर घर से बाहर निकलने पर पाबंदी, सब्जी, फलों इत्यादि को गर्म नमक के पानी से धोने के बाद प्रयोग, परचून सामान को सेनिटाइज करने, खुले में ना थूकने, गुटखा व धूम्रपान का सेवन ना करने, सब्जी व अन्य आवश्यक सामग्री खरीदने के समय सामजिक दूरी व बच्चों को साथ ना रखने क्योंकि बच्चे इधर-उधर हाथ लगाते हैं जिससे संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा रहता है, आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने, आवश्यक कार्य हेतु ही बाहर निकलने, किसी अनजान व्यक्ति को देखते ही या दूसरे राज्य या विदेश से आने वालों की सूचना प्रशासन को देने, बाजार या कार्यालय से वापस घर आने पर गर्म पानी से नहाने और कपडों को धोने, मोबाइल और गाड़ी की चाबी या चूल्हे के पास सेनिटाइजर का प्रयोग ना करने, अपने गांव, मोहल्ले या कालोनी में किसी भी संक्रमित या बीमार से घृणा या भेदभाव ना करने, अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए सात्विक भोजन,  नियमित योगा, गर्म पानी पीना चाहिये, उक्त नियमों और व्यवहार का पालन करने, हम कोरोना के संक्रमण से बच  सकते है या कोरोना फैलने की संभावना को रोक सकते हैं। इसके अलावा उन्होंने सरकारी कल्याणकारी योजनाओं व आपात वित्तीय सहायता योजनाओं के बारे में भी जागरूक किया। उन्होंने प्राधिकरण की सेवाओं सहित हेल्पलाइन नंबर 01275 298003 के बारे में भी जानकारी प्रदान की । कोई भी जरूरतमंद प्राधिकरण की हेल्पलाइन नंबर पर सूचित करके मुफ़्त कानूनी सहायता प्राप्त की जा सकती है।      
शिविर में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशन में पैनल अधिवक्ता जगत सिंह रावत ने ग्रामीणों को अपनी ओर से ब्लेक मास्क दैनिक प्रयोग करने वाले वितरित किए। ग्रामीणों को मास्क व सेनिटाइजर के प्रयोग व इनके महत्व के बारे में जागरूक किया। शिविर में सामाजिक दूरी भी बरकरार रखी गयी और एक एक करके ग्रामीणों को जागरूक किया गया।     शिविर में पैराविधिक स्वयं सेवक इंद्रजीत व मनोज शर्मा, नरेश शर्मा एडवोकेट तथा ग्रामीणों द्वारा भी सहयोग किया गया ।             


पशुपालन लाभकारी सहायक कृषि कार्य

कृषि कार्यों के साथ-साथ पशुपालन एक लाभकारी सहायक कृषि कार्य


रतन सिंह चौहान
होडल पलवल । पशुपालन एवं डेयरिंग विभाग पलवल की उप-निदेशक डा. नीलम आर्य ने बताया कि कृषि कार्यों के साथ-साथ पशुपालन एक लाभकारी सहायक कृषि कार्य है। सीमांत किसानों, बेरोजगार युवाओं को भी पशुपालन का व्यवसाय अपनाना चाहिए। सभी पशु चिकित्सकों की सलाह से पशुपालन करें। पशु पालन एवं डेयरिंग विभाग की योजनाओं का लाभ उठाएं। पशु चिकित्सकों की सलाह पर अपने पशुओं में रोगों की रोकथाम के लिए समय-समय पर टीकाकरण अवश्य करवाएं। देसी गायों की मिनी डेयरी योजना के तहत गाय की देशी नस्लों के संरक्षण एव विकास तथा राज्य में गौ वंश संवर्धन को बढ़ावा देने के लिए गायों की डेरी इकाई लगाने वाले पशुपालकों को 50 प्रतिशत अनुदान गायों के खरीद मूल्य पर दिया जा रहा है।
उप-निदेशक डा. नीलम आर्य ने विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए बताया कि जिला में पशुपालन का कार्य सुचारू रूप से करने के लिए समय-समय पर किसानों को जागरूक किया जाता है। उन्होने बताया कि चालू वित्त वर्ष के दौरान पलवल जिला क्षेत्र में कुल 29061 दुधारू पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान किया गया। जिनमें कुल 21782 भैंस व कुल 7279 गाय शामिल हैं। जिला क्षेत्र में 1 लाख 99 हजार 442 पशुओं को मुहखुर तथा कुल 250 पशुओं को इन्टीरो टॉक्सिनिया वैक्सिनेशन के टीके लगाए गए। पशुओं के बांझपन के ईलाज के लिए चालू वित्त वर्ष के दौरान कुल 02 शिविर लगाए गए हैं।               


घर-घर दस्तक देंगे सपा के सिपाही

केन्द्र व प्रदेश सरकार की नाकामी बताने घर घर दस्तक देंगे अखिलेश के सिपाही


'आह्वान पुस्तिका के माध्यम से भाजपा सरकार की नाकामी बता रहे सपा कार्यकर्ता


तीनों विधान सभा में कोविड 19 के बचाव की जानकारी देने के साथ ज़रुरतमन्दों की सूची बना कर भेजेंगे राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को


बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा जारी की गई तीन पन्नों की आह्वान पुस्तिका के माध्यम से समाजवादी पार्टी के महानगर कार्यालय से आज घर घर पहोंच कर लोगों को केन्द्र व प्रदेश की सरकार द्वारा कोरोना महामारी में भी भेद भाव का आरोप लगाते हुए पुस्तिका भेंट कर मोदी और योगी सरकार को उखाड़ फेंकने का आहवाहन किया गया।निर्वतमान महानगर अध्यक्ष सै०इफ्तेखार हुसैन के नेत्रित्व मे चौक महानगर कार्यालय पर जुटे सपा पदाधिकारीयों व कार्यकर्ताओं को पुस्तिका में छपे अखिलेश यादव के आह्वान को पढ़ कर सुनाया गया।शहर उत्तरी विधान सभा अध्यक्ष रविन्द्र यादव शहर पश्चिमी विधान सभा अध्यक्ष विक्रम पटेल और शहर दक्षिणी विधान सभा अध्यक्ष मो०ग़ौस को आह्वान पुस्तिका की प्रति देकर घर घर पहुँचाने को रवाना किया गया।महानगर मीडिया प्रभारी सै०मो०अस्करी ने बताया की आह्वान पुस्तिका में केन्द्र व प्रदेश सरकार की नाकामी और कोविड १९ की महामारी में भी भेद भाव करने का आरोप लगाने के साथ सरकार की विफलताओं का उल्लेख करते हुए कार्यकर्ताओं को एक प्रारुप हर घर से भरवाने का निर्देश दिया गया जिसमें घर के मुखिया का नाम के साथ कोई कोरोना प्रभावित हो तो उसकी जानकारी और सरकार द्वारा कोई मदद मिली या नहीं मिली इसकी जानकारी सहित अखिलेश यादव के सिपाहीयों द्वारा मदद की गई या नहीं इसकी जानकारी दर्ज करने को कहा गया।आह्वान पुस्तिका वित्रण करने रवाना होने वालों में सै०इफ्तेखार हुसैन,इसरार अन्जुम,महेन्द्र निषाद,योगेश चन्द्र यादव,महबूब उसमानी,अब्दुल समद,मो०ग़ौस,रविन्द्र यादव रवि,सै०मो०अस्करी,मो०शारिक़,रमीज़ अहसन,लालजी यादव,राकेश यादव,मशहद अली खाँ,भोला पाल,संतोष निषाद,अभिमन्यू पटेल,आक़िब जावेद खान,जिज्ञांशू यादव,विजय महतो,अशफाक़ अन्सारी,मो०अली,नौशाद सिद्दीक़ी आदि मौजूद रहे।


एक्स. डीएसपी के सामने लाचार पुलिस

अतुल त्यागी।(मेरठ मंडल प्रभारी)
रोहित गौतम। (जिला प्रभारी)
वरूण कुमार (कैमरा मैन)
ग़ाज़ियाबाद में रिटायर डीएसपी के सामने नसमस्तक हुई सिहानी गेट की पुलिस। 
रिटायर डीएसपी के आदेशों का पालन करती है सिहानीगेट की पुलिस,


गाजियाबाद। जी हां मामला ग़ाज़ियाबाद के अशोक नगर स्थित ओम मेडिकल संचालक का है। जिसको सोनवीर तोमर नामक व्यक्ति पिछले 13 सालो से चला रहे है। सोवनीर तोमर कुछ बीमारियों से ग्रस्त है जिसकी वजह से वो मेडीकल स्टोर पर नही आ पाते,स्टोर को उनका भतीजा डॉक्टर दीपक तोमर चला रहे है,दीपक तोमर ने आरोप लगा है कि रिटायर डीएसपी ने पुलिस की मौजूदगी में ही अपने साथियों के साथ मिलकर मेडिकल स्टोर का सारा सामान सड़क पर फेक दिया। पीड़ित ने जब पुलिस से गुहार लगाई तो बस प्राथना पत्र पर मोहर लगा कर मामले को दबाने का प्रयास किया गया। वही विरोध करने पर जान से मारने की धमकी तक दी है उसके बाद भी पुलिस कोई कार्यवाही नही कर रही है।


दरअसल अशोक नगर ओम मेडिकल स्टोर को दीपक तोमर नामक व्यक्ति चलाते हैं और इसी जगह पर गौरव सिरोही का अस्पताल है गौरव सिरोही के पिता डीएसपी के पद से रिटायर हो चुके हैं दीपक तोमर ने आरोप लगाया है कि गौरव सिरोही में धर्मेंद्र सिरोही ने पुलिस से मिलकर उनके मेडिकल स्टोर का सारा सामान सड़क पर फेंक दिया इसकी उन्होंने बकायदा वीडियो भी बनाई मौके पर पुलिस भी आई लेकिन पुलिस रिटायर्ड डीएसपी के आगे दबाव में रहे जिसके चलते करीब ₹300000 का सामान सड़क पर फेंक दिया दीपक सिरोही व उसके परिवार के लोग अब पुलिस से गुहार लगा रहे हैं साथ ही मुकदमा लिखवाने के लिए प्रार्थना पत्र भी दे रहे हैं लेकिन रिटायर्ड डीएसपी के सामने पुलिस वाले भी मोनी ही साबित हो रहे हैं और कहीं ना कहीं अब मैं मेडिकल संचालक अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहा है डॉ दीपक ने आरोप लगाया है कि काफी संख्या में एकत्रित हुए लोगों ने उनके सामान को सड़कों पर फेंक दिया।


पुलिस ने रैली निकालकर जागरूक किया

कृष्णकांत राठौर


बूंदी। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कोरोना जागरूकता रैली निकालकर आमजन को जागरूकता का संदेश दिया गया। जागरूकता रैली को कोतवाली से पुलिस अधीक्षक शिवराज मीणा ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। रैली में शामिल पुलिस कर्मियों ने शहर के विभिन्न मार्गो से गुजरते हुए लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव के उपाए अपनाने, मास्क लगाने तथा सोशल डिस्टेंस की पालना के संदेश दिए।
जागरूकता रैली में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक किशोरी लाल, पुलिस उपाधीक्षक मनोज शर्मा, शहर कोतवाल लोकेंद्र पालीवाल, सदर थाना अधिकारी शौकत अली, महिला थाना प्रभारी अंजना नोगिया सहित कई बड़ी संख्या में पुलिस के अधिकारी व जवान शामिल रहे।
जागरूकता रैली में आरएसी दल ने भी अपनी भागीदारी निभाई। शहर में मुनादी के साथ-साथ लोगों को कोरोना से बचाव को लेकर बरती जाने वाली सतर्कता को मुनादी की गई।               


डीएम ने अवैध भंडारण किया जप्त

ज़िलाधिकारी झाँसी ने औचक निरीक्षण कर बालू, मोरंग, गिट्टी के अवैध भंडारण को किया जप्त


झांसी। जिलाधिकारी श्री आन्द्रा वामसी के निर्देश पर खनिज विभाग, पुलिस विभाग तथा राजस्व   गेट की सीमा अंतर्गत विभिन्न स्थानों पर छापा मारकर बालू/मोरम, गिट्टी के अवैध भंडारण पर कार्रवाई करते हुए जब्त किया। 
संयुक्त दल द्वारा पंचवटी तिराहा के पास जेडीए की भूमि पर 124 घनमीटर बालू /मोरम तथा 30 घन मीटर गिट्टी का भंडारण पाया जो प्रदीप साहू निवासी पंचवटी तिराहा पानी की टंकी के पास के द्वारा किया गया है। 
संयुक्त टीम ने गोकुलधाम के पास पंचवटी कॉलोनी में रामनिवास शुक्ला की भूमि पर 69 धनमीटर बालू/मोरम के साथ 25 धनमीटर गिट्टी का भंडारण पाया पूछताछ में पता चला कि उक्त भंडारण जितेंद्र यादव निवासी दतियागेट के बाहर तथा रामनिवास शुक्ला  निवासी पंचवटी कॉलोनी थाना कोतवाली द्वारा किया गया । खनिज विभाग, पुलिस विभाग व राजस्व विभाग द्वारा बालाजी कॉलोनी के पास मैनरोड पंचवटी कॉलोनी बृज किशोर यादव निवासी अंजनी नगर की भूमि पर 258.00 घनमीटर बालू/मोरम तथा 2 धनमीटर गिट्टी का भंडारण पाया गया जो राहुल साहू निवासी पंचवटी कॉलोनी द्वारा किया गया है।
 इस प्रकार तीनों स्थानों पर रखी बालू /मोरम एवं गिट्टी को जप्त करते हुए प्रभारी पुलिस चौकी उन्नाव गेट थाना कोतवाली को अग्रिम आदेशों तक अभिरक्षा में दिया किया गया।
इस मौके पर श्री वेद प्रकाश शुक्ला सर्वेक्षक, महाराज सिंह प्रभारी पुलिस चौकी उन्नाव गेट थाना कोतवाली के साथ राजस्व विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे।
गिरजशंकर राय झांसी    


परिषद-दल की कार्यकारणी का गठन

विश्व हिंदू परिषद बंजरग दल की कासिम बिहार और जवाहर नगर की कार्यकारिणीयो का गठन 
अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल ने वार्ड नo 40 कासिम विहार और वार्ड नo 25 जवाहर नगर में 2 गज की दूर का ध्यान रखते हुए बेठक की एवम बेठक में जिला मंत्री पंडित जय भोले जी की अध्यक्षता में दोनों वार्ड  में  कुछ कार्यकर्ताओं  की मुख्य घोषणा कर समितियो का गठन किया गया। तथा वार्ड कार्यकारिणी ने सभी अधिकारियों का भगवा पटका पहनाकर स्वागत किया और संगठन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करने की स्वकृति संगठन को दी। उसके बाद जिला मंत्री पंडित जय भोले जी ने सभी कार्यकर्ताओ को कहा कि हम सभी को मिलकर कोराना महामारी से अपने हिंदू भाई बहिनो को बचाना है और सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशो का पालन करने के लिए समाज को जागरूक भी करना है और हमे अपना सनातन धर्म बचाए रखने के लिए विधर्मियों का विरोध भी करना है और अपने आस पास बढ रही लव जेहाद और हिंदुओ को परेशान करने वाली दुष्ट प्रवृति के लोगो के खिलाफ शासन प्रशासन द्वारा सख्त कार्यवाही भी करवानी है तत्पश्चात जिला सहमंत्री कुलदीप ने संगठन के मुख्य उद्देश्य बता कर बैैठक समाप्त की।
इस मौके पर जिला उपाध्यक्ष मुकेश नागर नगर कार्यकारिणी सदस्य राहुल नागर, नगर गौरक्षा प्रमुख मनोज कश्यप, नगर संयोजक इंद्रपाल तेवतिया, नगर सह संयोजक मोहित सेन, नगर उपाध्यक्ष मनोज कोरी, और दोनों वार्डों में सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित रहे। महक सिंह, दीपक अरोड़ा, सोनू,, रोहित, आशु जाटव ,अरुण नगर, विजय कश्यप ,मनीष ठाकुर,,इत्यादि कार्यकर्ता सम्मिलित हुए और भारत माता की जय और जय श्री राम के नारे के साथ कार्यक्रम का समापन किया।


एक पौधा रोपण हम सबका संकल्प

"वृक्षारोपण एक पौधा एक संकल्प हम सबका "
अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। भारतीय जनता पार्टी की लोनी नगरपालिका अध्यक्ष रंजीता धामा ने खन्ना नगर पार्क मे पौधे लगाते हुये पौधारोपण पखवाडे की शुरूआत की । 
इस अवसर पर जानकारी देते हुये लोनी नगर पालिका अध्यक्ष रंजीता धामा ने बताया कि प्रदेश सरकार के दूारा प्रदेश भर मे वृक्षारोपण पखवाडा शुरू किया जा रहा है जोकि 1जुलाई से 6 जुलाई तक चलेगा इसके अन्दर कई करोड़ पौधे लगाने का संकल्प लिया गया है। जिसके अन्तर्गत लोनी नगरपालिका को 8 हजार पौधे लगाने के निर्देश दिये गये हैं। उसी कडी मे 4हजार पौधों की पहली खेप वन विभाग दूारा लोनी नगरपालिका को मिल चुकी है जल्द ही बाकी पौधे भी मिल जायेंगे, उसी कडी मे कल भी पौधे लगाये गये हैं एवं आज भी एक बडे स्तर पर पौधे लोनी क्षेत्र मे लगाये जा रहे हैं।
 हम सभी को चाहिये कि "एक पौधा एक संकल्प " के साथ हर व्यक्ति को एक पौधा लगाना चाहिए जिससे कि पर्यावरण की सुरक्षा होती रहे । आज मेरे दूारा नीम, पिलखन, जामुन आदि के पौधे लगाये गये हैं । 
लोनी नगरपालिका अध्यक्ष ने कहा कि जूलाई एवं अगस्त जो कि मानसून का महीना होता है इस मौसम मे लगाये गये पौधों की वृद्धि अच्छे से होती है बारिश के पानी से उनकी सिंचाई हो जाती है जिससे पौधे सुरक्षित रहते हैं एवं प्राकृतिक रूप से भी ये समय पौधारोपण के लिये मुफीद होता है। ये दोनो महीने हमारे देश मे मानसून के होते हैं जिसमे अच्छी बारिश होती है।
इस अवसर पर अधिशासी अधिकारी शालिनी गुप्ता भी उपस्थित रही। उन्होंने बताया कि हम लोग नगरपालिका को दी गयी जिम्मेदारी को पूर्ण रूप से निभायेंगे तथा अधिकतम पौधे लगायेंगे। हम लोग अपनी जिम्मेदारी को लेकर सजग है सरकार के दूारा दिये गये कार्य हमारी प्राथमिकता मे हैं ,जल्द ही लोनी मे सभी श्मशान घाट, कब्रिस्तान, पार्क आदि जगह पर जंहा पौधे सुरक्षित रहे तथा उनका संवर्धन हो वंहा पर अभियान चलाकर पौधे लगाये जायेंगे। 
इस अवसर पर लोनी नगरपालिका की अधिशासी अधिकारी शालिनी गुप्ता,सभासद इसरार बेग, प्रणव बाबू, भण्डारी बाबू, देवेश कुमार,बबलू पहलवान, दीपक ,सुरैन्द्र कुमार, अमित सिंह, सहित सैकड़ों की संख्या मे कालोनी के सम्मानित लोग उपस्थित रहे ।            


बिहारः आकाशीय बिजली से 14 की मौत

पटना। बिहार में गुरुवार को आकाशीय बिजली गिरने से अब तक 14 लोगों की मौत हो चुकी है । आपदा प्रबंधन विभाग ने भी वज्रपात का अलर्ट जारी किया है। मधेपुरा जिला के सदर प्रखंड मुरलीगंज कुमारखंड में बिजली गिरने की चेतावनी जारी की गई है। इसके साथ ही लोगों से अपने घरों में रहने की भी अपील की गई है । वही, समस्तीपुर में आकाशीय बिजली गिरने से अलग-अलग जगहों पर 5 लोगों की मौत हुई है।


जानकारी के मुताबिक गुरुवार को बिहार के समस्तीपुर जिले में आकाशीय बिजली गिरने से अलग-अलग जगहों पर 5 लोगों की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि समस्तीपुर के रोसड़ा में तीन, पूसा के मोरसंड में एक, भुईधारा में भी एक व्यक्ति की मौत हुई है. समस्तीपुर में आकाशीय बिजली से जिन पांच लोगों की मौत हुई है उनमें दो बच्चे भी शामिल हैं।               


हरियाणा में 14,943 सक्रिय संक्रमित

चंडीगढ़।  हरियाणा में कोरोना संक्रमण के आज सायं तक 393 नये मामले आने के बाद राज्य में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 14943 पहुंच गई है। वहीं इनमें से 240 लोगों की मौत हो चुकी है और 10499 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। राज्य में कोरोना के सक्रिय मामले अब 4202 हैं।


राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के कोरोना की स्थिति को लेकर यहां जारी बुलेटिन में यह जानकारी दी गई। राज्य में काेरोना संक्रमण पॉजिटिव दर 5.65 प्रतिशत, रिकवरी दर 70.27 प्रतिशत जबकि मृत्यु दर 1.61 प्रतिशत है। राज्य के सभी 22 जिले इस समय कोरोना की चपेट में हैं। राज्य के गुरूग्राम जिले में कोरोना के अब तक सबसे ज्यादा मामले आये हैं। इसके अलावा फरीदाबाद, सोनीपत, रोहतक, अम्बाला, पलवल और करनाल में जिलों में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। गुरूग्राम में आज कोरोना के 116, फरीदाबाद 165, भिवानी 26, रोहतक 22, करनाल 14, पलवल 10, अम्बाला नौ, नूंह आठ, पानीपत छह, महेंद्रगढ़ पांच, कुरूक्षेत्र और फतेहाबाद चार-चार, यमुनानगर दो, झज्जर और कैथल में एक-एक मामला आया।


राज्य के सोनीपत, हिसार, रेवाड़ी, पंचकूला, जींद, सिरसा और चरखी दादरी जिलों में कोरोना का आज कोई नया मामला नहीं आया। राज्य में अब तक 105344 कोरोना संदिग्धों को निगरानी में रखा गया है जिनमें से 59314 लोगों ने क्वारंटीन अवधि पूरी कर ली है तथा शेष 46030 निगरानी में हैं। राज्य में अब तक 269726 कोरोना संदिग्धों के नमूने जांच के लिये भेजे गये हैं जिनमें से 249453 नेगेटिव तथा 14 इतालवी नागरिकों समेत 14941 पॉजिटिव पाये गये हैं जिनमें 10123 पुरूष, 4816 महिलाएं और दो ट्रांसजेंडर है। 5332 सैम्पल की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। कुल 14941 पॉजिटिव मरीजों में से 10499 को ठीक होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है। इस तरह राज्य में कोरोना के सक्रिय मामले अब 4202 हैं।


राज्य में कुल कोरोना संक्रमितों और ठीक हुये मरीजों की संख्या गुरूग्राम में 5463(4079), फरीदाबाद 3898(2581), सोनीपत 1208(817), रोहतक 595(533), अम्बाला 328(293), पलवल 328(237), भिवानी 441(177), करनाल 325(211), हिसार 232(161), महेंद्रगढ़ 266(181), झज्जर 262(186), रेवाड़ी 296(96), नूंह 200(162), पानीपत 200(120), कुरूक्षेत्र 129(103), फतेहाबाद 119(90), पंचकूला 112(91), जींद 109(75), सिरसा 108(86), यमुनानगर 103(86), कैथल 106(54) और चरखी दादरी में 78(45) हो गई है। राज्य में कोरोना ने अब तक 240 लोगों की जान ले ली है जिनमें 178 पुरूष और 62 महिलायें हैं। गुरूग्राम में 92, फरीदाबाद में 80, सोनीपत 18, रोहतक और पानीपत सात-सात, करनाल और हिसार छह-छह, रेवाड़ी पांच, जींद और झज्जर चार-चार, अम्बाला, पलवल और भिवानी तीन-तीन तथा महेंद्रगढ़ और चरखी दादरी में एक-एक मौत होने की बुलेटिन में पुष्टि की गई है।                महावीर जैन


ससुराल में पेड़ पर लटकी मिली लाश

ससुराल आये व्यक्ति की बबूल के पेड़ से संदिग्ध परिस्थितियों में लटकती हुई मिली लाश


अझुवा कौशाम्बी। सैनी कोतवाली क्षेत्र के कनवार ग्राम सभा के मजरे बगहा में सियाराम पुत्र बुधई रैदास उम्र 24 वर्ष ने बबूल के पेड़ में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली ।


जानकारी के अनुसार फतेहपुर जिले के खागा कोतवाली  गांव छीमी  के मजरे बरइन का पुरवा निवासी सियाराम अपनी ससुराल बगहा 27जून को  रिश्ते की साली की शादी में शामिल होने आया था उसकी साली की शादी 29 जून को थी बीती रात पति पत्नी में किसी बात को लेकर विवाद हुआ था जिससे आहत होकर सियाराम ने बबूल की बाग में दुपट्टे के सहारे पेड़ से लटक कर आत्महत्या कर लिया सुबह परिजनों को जानकारी मिलने पर कोहराम मच गया ! मृतक के पिता बुधई के मुताबिक छीमी और बगहा नजदीक होने के कारण बगहा के ही कुछ बड़े खेतिहर लोगों के खेत बंटाई पर लेकर परिवार का पालन पोषण कर रहे थे अचानक पता नही क्या हो गया कि उसके पुत्र ने आत्मघाती कदम उठा लिया। अभी उसकी शादी हुए डेढ़  वर्ष ही हुआ है! वहीं बगहा में ही कुछ लोग तरह तरह की बातें करते हुए काना फुसी हो रही थी। इस संबंध में चौकी प्रभारी अझुवा विजय कुशवाहा ने कहा पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर अग्रिम कार्यवाही की जाएगी।


अझुवा कौशाम्बी। ससुराल आये सियाराम की मौत ने फिर लोगो के जेहन में पुरानी यादें ताजा कर दी है मृतक सियाराम पत्नी के पिता केशनाथ की भी मृत्यु उसके साढू के यहां संदिग्ध परिस्थितियों हुई थी उस समय भी केशनाथ की मौत पर तमाम अफवाहें फैली थी बारह वर्ष बीत जाने के बाद भी केशनाथ की मौत का राज नही खुल सका है।


सन्तलाल मौर्य 


अल्पसंख्यकों की आवाज नहीं दबने देंगे

योगी सरकार को अल्पसंख्यकों कि आवाज़ नहीं दबाने देंगे: हंजला उस्मानी


कौशाम्बी। अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश चेयरमैन शहनवाज आलम कि गिरफ्तारी और उसके विरोध में सड़क पर उतरे प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू और नेता विधानमंडल दल आराधना मिश्रा की गिरफ्तारी के विरोध में कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग ने चायल तहसील में जिला चेयरमैन तमजीद अहमद की अगुवाई में आज धरना प्रदर्शन किया।


धरने में शामिल राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर हनजला उस्मानी ने कहा कि जिस तरह से अल्पसंख्यकों कि आवाज़ दबाने का प्रयास सरकार द्वारा किया जा रहा है और प्रदेश चेयरमैन को फर्जी मुकदमे में गिरफ्तार किया है, कांग्रेस पार्टी  अल्पसंख्यकों की आवाज़ दबने नहीं देगी, 


जिलाध्यक्ष अरुण विद्यार्थी ने कहा पूरी कांग्रेस पार्टी अल्पसंख्यकों के साथ खड़ी है और खड़ी रहेगी, पूर्व जिला अध्यक्ष तलत अज़ीम ने कहा जिस तरह से पिछले कुछ दिनों में अल्पसंख्यक वर्ग के साथ इस सरकार में सोषण हो रहा है वह सरकार कि मंशा को कटघरे में खड़ी करती है। जिला चेयरमैन अल्पसंख्यक विभाग तमजीद अहमद ने कहा कि फर्जी मुकदमे और शोषण अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और सरकार को भरपूर जवाब दिया जाएगा


इस मौके पर वरिष्ठ नेता शाहिद सिद्दीकी, अमिता सिंह, मनोज पटेल,देवेश श्रीवास्तव,कौशालेश द्विवेदी,नदीम अहमद, सरवर आलम, खालिद जाफरी, फरमान,मकसूद कुरैशी,विनोद चौधरी, असगर मदनी, विपिन दीवाकर, अलकाब सिद्दीकी, नुरूत जमा, इरशाद अहमद,शकील अहमद, शूखलाल यादव, सुधाकर त्रिपाठी, मो सफीक, सलमान, शंभू कुशवाहा, नाजिम, जमीरुल इस्लाम, आकिब, राजेन्द्र, अलफैज, नूरानी, इजहार अब्बास, भरत,सहित सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस के लोग शामिल रहे।


रामप्रसाद गुप्ता


जम्मू-कश्मीर में 5 और संक्रमितो की मौत

मनोज सिंह ठाकुर


श्रीनगर। केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से पांच और मरीजों की मौत होने के बाद मृतकों की संख्या बढ़ कर 109 पर पहुंच गयी है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि प्रदेश में गुरुवार को कोरोना संक्रमण से पांच और मरीजों की मौत हो गई। इन पांच मरीजों की मौत के साथ ही प्रदेश में पिछले 28 दिनों में कोरोना संक्रमण के कारण 73 लोगों की जान चली गयी है और गत 44 दिनों में 94 लोगों की मौत हो गयी जबकि कोविड-19 मामलों की संख्या बढ़ कर 7500 के पार पहुंच गयी।


सूत्रों ने बताया कि कुलगाम के यारीपोरा निवासी 55 वर्षीय एक व्यक्ति को टाइप-2 मधुमेह और उच्च रक्तचात के साथ मस्तिष्क की बीमारी के कारण 22 जून को एस के इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एसकेआईएमएस) में भर्ती कराया गया था। उन्होंने बताया कि मरीज का कोविड-19 का परीक्षण पॉजिटिव आया था और कल देर रात उनकी मौत हो गई।
उन्होंने कहा कि बारामूला जिले के सोपोर निवासी 65 वर्षीय बजुर्ग को मधुमेह टाइप-2 और उच्च रक्तचाप के साथ निमोनिया होने पर पिछले महीने एसकेआईएमएस में भर्ती कराया गया था। मरीज का कोरोना परीक्षण पॉजिटिव आया था और आज तड़के करीब तीन बजे दिल का दौरा पडऩे से उसकी मौत हो गयी।


इसके अलावा कुपवाड़ा के कांडी निवासी एक 50 वर्षीय महिला को 30 जून को कार्सिनोमा और एनीमिया से पीडि़त होने पर एसकेआईएमएस में भर्ती कराया गया था। मरीज पेरिटोनियल बायोप्सी और पोस्टऑपरेटिव सेप्सिस से पीडि़त थीं और उनका कोरोना परीक्षण भी पॉजिटिव आया था। मरीज की बुधवार शाम को दिल का दौरा पडऩे से मौत हो गयी।      


चारधाम यात्रा, श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

चारधाम यात्रा शुरू; पहले दिन ई-पास के जरिए 422 श्रद्धालुओं ने किए दर्शन   


हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। चारधाम यात्रा में बुधवार से श्रद्धालुओं की आवाजाही शुरू हो गई है। पहले दिन चारधामों में 422 श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। इसमें सबसे ज्यादा केदारनाथ में 165 श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। बदरीनाथ में 154, गंगोत्री में 55, जबकि यमुनोत्री में सबसे कम 48 श्रद्धालुओं ने माथा टेका। देवस्थानम बोर्ड के सीईओ रविनाथ रमन ने बताया कि पहले दिन चारधामों के लिए 422 लोगों को ई-पास जारी किए गए। आने वाले समय में श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ेगी। इसलिए कोविड-19 से बचने के लिए इंतजाम किए जा रहे हैं। देवस्थानम बोर्ड की ओर से चारोंधामों में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए थर्मल स्क्रीनिंग, सोशल डिस्टेंसिंग के लिए व्यापक इंतजाम किए गए हैं।


पाकिस्तान में 50 करोड़ का कृष्ण मंदिर

 















पकिस्तान में 50 करोड़ की लागत से बनेगा कृष्णा मंदिर, इमरान ख़ान ने प्रथम चरण में किया 10 करोड़ देने का एलान।


नई दिल्ली/इस्लामाबाद। पाकिस्तान में रह रहें लगभग 80 लाख हिंदू अल्पसंख्यकों में तब खुशी की लहर दौड़ गई जब पाक सरकार ने 20 हज़ार स्क्वायर फ़ीट ज़मीन और 10 करोड़ रूपये मंदिर बनााने के लिए दिये जाने का एलान किया। हिंदूओं की ये मांग कई वर्षों से जारी थी। 
पाक समामार सूत्रों के अनुसार पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में पहली बार किसी हिंदू मंदिर निर्माण हेतु पाक सरकार ने 20 हज़ार स्क्वायर फ़ीट ज़मीन और 10 करोड़ रूपये दिये जाने का एलान किया है। राजधानी इस्लामाबाद में हिंदूओं की संख्या लगभग 3000 बताई जाती है। कुछ दिनों पहले ही इस्लामाबाद कैपिटल डेवलपमेंट अथॉरिटी ने मंदिर के लिए ज़मीन दी है। मंदिर निर्माण और निगरानी के लिए के लिए संसदीय सचिव लाल चंद माल्ही को नियुक्त किया गया था। पाकिस्तान सरकार ने यह ज़मीन इस्लामाबाद की हिंदू पंचायत को सौंपते हुए मंदिर निर्माण के प्रथम चरण में 10 करोड़ रुपये देने की घोषणा भी की है। मंदिर निर्माण के मामले में लाल चंद माल्ही का कहना है कि सरकार के एलान के बाद हिंदू समुदाय के दिए चंदे से कृष्ण मंदिर की चारदीवारी बनाई जाने लगी थी क्योंकि सरकार द्वारा ऐलान की गई राशि अभी मिलनी बाकी है। यह जानकारी 23 जून को दोपहर में माल्ही ने ट्वीट के जरीए साझा की। 


समाचार सूत्रों के अनुसार माल्ही ने यह भी कहा कि हिंदू पंचायत इस ज़मीन पर विशाल परिसर बनाना चाहती है जिसमें मंदिर, श्मशान, लंगरखाना, सामुदायिक भवन और रहने के लिए धर्मशाला होगी। शुरुआती अनुमान के अनुसार मंदिर निर्माण में कम से कम 50 करोड़ रुपये का ख़र्च होने की संभावना है। इसके पीछे हमारा मक़सद अंतरधार्मिक सद्भाव बढ़ाना और क़ायदे आज़म मुहम्मद अली जिन्ना के सपनों का समावेशी पाकिस्तान बनाना है।
हांलाकि पाकिस्तान में मज़हबी शिक्षा देने वाली संस्था जामिया अशर्फ़िया मदरसा के एक मुफ़्ती ने इसके ख़िलाफ़ फ़तवा जारी किया है और मंदिर का निर्माण रोकने के लिए मामला हाईकोर्ट तक पहुंच गया है। मंदिर निर्माण के ख़िलाफ़ फ़तवा जारी करने वाली संस्था लाहौर की देवबंदी इस्लामिक संस्था है। सूत्रों के अनुसार इस फ़तवे में मुहम्मद ज़कारिया ने कहा है कि इस्लाम में अल्पसंख्यकों के धर्मस्थलों की देखभाल करना और उन्हें चलाना तो ठीक है लेकिन नए मंदिरों और नए धर्मस्थलों के निर्माण की इजाज़त इस्लाम में नहीं है। राजधानी इस्लामाबाद में नए मंदिर का निर्माण न सिर्फ़ इस्लामी भावना के ख़िलाफ़ है बल्कि पैगंबर मोहम्मद के बनाए मदीना शहर का भी अपमान है।


ज़कारिया ने अपने फ़तवे में कहा है कि उन्होंने लोगों के सवालों के बाद ये फ़तवा जारी किया है। कहा कि हम कुरान और सुन्ना के ज़रिए लोगों का मार्गदर्शन करने की कोशिश करते हैं। हम अपने मन से कुछ भी नहीं बोलते। मेरी समझ है कि एक इस्लामी देश में नए मंदिर या अन्य धर्मस्थल बनाना ग़ैर-इस्लामी है। हम सरकार को सिर्फ़ धर्म के आधार पर उसे समझाने की कोशिश कर सकते हैं और हमने अपना काम कर दिया है।
वहीं दुसरी ओर इस्लामाबाद के एक वकील ने कृष्ण मंदिर निर्माण रुकवाने के लिए हाईकोर्ट में आपत्ति दर्ज की है। 
हालांकि इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने याचिका पर मंदिर निर्माण पर स्टे देने से मना कर दिया है। अदालत ने कहा है कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को भी धार्मिक आज़ादी का उतना ही अधिकार है जितना कि बहुसंख्यकों को। वहीं अदालत ने कैपिटल डेवलपमेंट अथॉरिटी के अध्यक्ष और अन्य सम्बन्धित अधिकारियों को नोटिस भी भेजा है और कहा है कि याचिकाकर्ता वकील के सवालों का जवाब देकर यह स्पष्ट किया जाए कि मंदिर बनाने में नियमों का उल्लंघन नहीं हो रहा है। वहीं दुसरी ओर पाक प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने अपना रूख स्पष्ट करते हुए 26 फरवरी 2020 को अपने ट्वीट में कहा था कि मैं लोगों को चेताना चाहता हूं कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों या उनके धर्मस्थलों को निशाना बनाने वालों से सख़्ती से निबटा जाएगा। हमारे अल्पसंख्यक इस देश में बराबरी के नागरिक हैं।



 

 



 



 















ReplyForward













 

 








 

 







 







 




 





 



 




50 हजार से कम कीमत की बाइक्स

 















कविता गर्ग


नई दिल्ली। कोरोना वायरस के इस संकट भरे समय में सुरक्षा के लिहाज से लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट की जगह निजी वाहनों से ही चलना ज्यादा बढ़िया समझ रहे हैं। इसे देखते हुए टू-व्हीलर कंपनियों ने भी कम कीमत की बाइक्स बाजार में उतारी हैं, ताकि कम बजट वाले लोग भी बाइक खरीद सकें। अब ज्यादातर टू-व्हीलर कंपनियों ने अपनी बाइक्स के सभी मॉडल् को BS6 कम्प्लायंट बना दिया है। इससे इनकी कीमतें बढ़ी हैं, लेकिन अभी भी कुछ मॉडल्स ऐसे हैं, जो आम आदमी के बजट में आ सकते हैं। मार्केट में 50 हजार रुपए से कम की कीमत की कई बाइक एवेलेबल है। इनमें हीरो मोटोकॉर्प और बजाज के 4 मॉडल मौजूद हैं।


हीरो एचएफ डीलक्स BSVI
इस बााइक की एक्स शोरूम कीमत 46,800 रुपए से लेकर 58 हजार रुपए तक है। इसमें 97.2cc एयरकूल्ड सिंगल सिलिंडर इंजन है। यह 7.94hp पावर और 8.05Nm का पीक टॉर्क जनरेट करता है। इसमें 4 स्पीड गियरबॉक्स दिया गया है।


बजाज CT 100
यह बाइक दो वेरियंट में एवेलेबल है। एक ES ALLOY और  दूसरा KS ALLOY।  केएस अलॉय वेरियंट की कीमत 42,790 रुपए है, वहीं ईएस अलॉय वेरियंट की कीमत 50,470 रुपए है। इन बाइक्स में 102cc,4 स्ट्रोक, सिंगल सिलिंडर इंजन है। यह 8.6hp पावर और 9.8Nm का टॉर्क जनरेट करता है। इसमें 4 स्पीड गियरबॉक्स है।


बजाज प्लाटिना
बजाज PLATINA 100 बाइक केएस अलॉय और ईएस अलॉय, दो वेरियंट में आती है। केएस अलॉय वेरियंट की कीमत 49261 रुपए है, वहीं ईएस अलॉय वेरियंट की कीमत 55546 रुपए है। प्लाटिना 100 में 102cc, 4 स्ट्रोक सिंगल सिलिंडर इंजन है। यह 7.9hp पावर और 8.34Nm का टॉर्क जनरेट करता है। इसमें 4 स्पीड गियरबॉक्स है। इस बाइक की अधिकतम स्पीड 90 kmph है।



 

 



 



 















ReplyForward













 

 








 

 







 







 




 





 



 




चीन के साथ भारत को तगड़ा झटका








































कविता गर्ग

नई दिल्ली। भारत ने चीन को तगड़ा जवाब देते हुए डिजिटल स्ट्राइक की है। चीन के 59 एप्प को भारत में बैन कर दिया है। हम आपको टॉप 5 एप बता रहे हैं जिनके जरिए लोगों को पहचान मिली है, जो लोगों के कमाई का जिरिया है। आइये जानते हैं कौन से हैं वो 5 ऐप
1- टिकटॉक 
टिकटॉक भारत में लाखों लोगों के कमाई का जरिया बन चुका है। भारत में 11 करोड़ 9 लाख लोग टिकटॉक का इस्तेमाल करते हैं। बहुत से लोगों को टिक टॉक से पहचान मिली है।
2- लाइकी 
भारत में लाइकी के कुल 11.5 करोड़ यूजर हैं। ये ऐप टॉप-7 ऐप्स में से है, जिसे लोग खूब पसंद करते हैं।
3- यूसी ब्राउजर 
चीन को छोड़ दें तो दुनिया में यूसी ब्राउज के करीब 1.1 अरब यूजर हैं। जिसमें से भारत में करीब 50 करोड़ यूजर्स यूसी ब्राउजर को इस्तेमाल करते हैं।
4- MI ऐप 
श्याओमी भारत में नंबर-1 पर है। श्याओमी ने एक चौथाई से भी अधिक बाजार पर कब्जा किया हुआ है। शाओमी यूजर्स अब मी कम्युनिटी और मी विडियो कॉल-शाओमी जैसे ऐप्स का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।
5- हेलो 
भारत में हेलो ऐप के करीब 5 करोड़ मंथली एक्टिव यूजर्स हैं। चीन का ये ऐप भारत के शेयरचैट ऐप को टक्कर देता है। इसके बैन होने से शेयरचैट को लोगों का अटेंशन मिलेगा।

 

 



 



 















ReplyForward  













 

 








 

 







 







 




 





 




 



 



 


 


 




















 

 

 



 

 

 



 

 

 


 


 

 

 







 

 





 



 





 


 







 

 


 





 


मोदी की बड़ी दाढ़ी के अलग मायनेंं






अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। इन दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दाढ़ी की चर्चा देशभर में हो रही है | एक समय उनकी दाढ़ी बड़ी सलीके से बनी नज़र आती थी | लगता था दाढ़ी बनाने वाले ने बड़े संजीदा हो कर उसे सेट किया है | ट्रिमिंग ऐसी की पीएम की दाढ़ी देखते ही बनती थी | लोगों को उनका यह लुक जबरदस्त नज़र आता था | मार्च के आखरी हफ्ते में जब वे जनता कर्फ्यू और फिर लॉकडाउन की घोषणा करने के लिए टीवी पर नजर आए तो उनकी दाढ़ी करीने से कटी हुई थी | लेकिन इस घटना के बाद जब भी नज़र आये तो उनके चेहरे का अंदाज कुछ बदला हुआ नज़र आ रहा है | उनकी दाढ़ी काफी बढ़ी हुई है, ऐसा लग रहा है जैसे कि उन्होंने कई दिनों से अपनी दाढ़ी नहीं कटवाई है | लिहाजा राजनैतिक गलियारों से लेकर आम लोगों के बीच प्रधानमंत्री की लंबी दाढ़ी को लेकर माथापच्ची शुरू हो गई है |


कई लोगों का मानना है कि नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन -1 के दौरान से ही अपनी दाढ़ी नहीं कटवाई है | कुछ लोगों का मानना है कि दाढ़ी नहीं कटवाने के पीछे यही लग रहा है कि वे आम जनता को कोई संदेश देना चाहते है | इसी लिए उन्होंने अपनी दाढ़ी नहीं कटवाने पर जोर दिया है | ऐसे लोगों की दलील है कि लॉकडाउन के दौरान सरकार ने उन्ही की मंशानुरूप नाई की दुकानों, सैलून और पार्लर को लेकर कड़ाई बरती थी | इस दौरान देश के कई हिस्सों से यह खबर आई थी कि नाई की दुकान में हज़ामत बनाने गए कई लोग कोरोना संक्रमित पाए गए | लिहाजा पीएम मोदी ने इसकी संवेदनशीलता समझते हुए खुद भी दाढ़ी नहीं बनवाई | ताकि लोग स्वयं अंदाजा लगा सके कि जब पीएम मोदी खुद दाढ़ी के लंबे बालों से परहेज नहीं कर रहे है, तो वे किस खेत की मूली है | उधर कुछ लोगों की राय है कि राष्ट्र व्यापी लॉकडाउन का पालन आपके चेहरे पर भी दिखाई दे, इसके चलते उन्होंने दाढ़ी को जस का तस बढ़ने दिया | इन लोगों के मुताबिक पीएम की लंबी दाढ़ी से साफ़ संकेत है, इससे दाहिर होता है कि प्रधानमंत्री ने भी लंबे समय से अपने हेयर ड्रेसर से दूरियां बनाई हुई है | उनके मुताबिक हेयर ड्रेसर से दूरियां बनाने का कारण ये नहीं है कि पीएम नरेंद्र मोदी के आधिकारिक निवास 7, लोक कल्याण मार्ग में हेयर ड्रेसर या नाई की लॉकडाउन के दौरान छुट्टी कर दी गई थी | उसकी उपलब्धता के बावजूद पीएम ने दाढ़ी कटवाने में कोई रूचि नहीं दिखाई | कुछ लोगों का यह भी मानना है कि कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काफी व्यस्त नज़र आ रहे है | वे दिन रात बैठकों में शामिल हो रहे है | जिस महामारी के संक्रमण से देश गुजर रहा है, उसके मद्देनज़र वे अपना पूरा समय इसकी रोकथाम और अन्य दूसरी गतिविधियों को संचालित करने में बिता रहे है | इस दौरान प्रधानमंत्री के रूप में उनके लिए लगातार वर्चुअल मीटिंग करना और अधिकारियों से मिलना दाढ़ी बनवाने में समय बिताने से ज्यादा आवश्यक है | वे दाढ़ी बनवाने में लगने वाले समय का भी सदुपयोग कर रहे है | शायद इसी वजह से वो कई दिनों से अपने हेयर ड्रेसर से नहीं मिले हैं |


फ़िलहाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लंबी और सफेद दाढ़ी वाला चेहरा भी लोकप्रिय नज़र आने लगा है | लोगों ने इस चेहरे को जबरदस्त रिस्पॉन्स दिया है | नौजवानों से लेकर बड़े बूढ़े तक उसी तर्ज पर अपनी दाढ़ी बड़ा रहे है | उन्होंने ने भी नाई और सैलून, पार्लर वालों से दूरियां बना ली है | दिलचस्प बात यह है कि जो लोग अपनी सफ़ेद दाढ़ी की रंगाई पुताई कर उसे काला या अन्य रंगों में रंगने में रूचि दिखते थे उन्होंने जब उसे कलर करवाना बंद कर दिया है | ताकि मोदी की तर्ज पर सफ़ेद दाढ़ी रख वे उन्हें अपना समर्थन दे सके | मोदी दाढ़ी भी अब देश में फैशन बनते जा रहा है | अनलॉक के दौरान जब नाई की दुकाने, सैलून और पार्लर खुले तो कई ग्राहकों ने मोदी स्टाइल में दाढ़ी का शेप बनाने पर जोर दिया |



 

 



 



एमपी में 28 मंत्रियों को दिलाई शपथ








































भौपाल। सत्ता में आने के करीब 100 दिन बाद आज गुरुवार को शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार (Shivraj Cabinet Expansion) हो गया है। एमपी की प्रभारी राज्यपाल आनंदी बेन पटेल (In-charge Governor Anandi Ben Patel) सिंधिया समर्थकों और भाजपा नेताओं को मंत्रीपद और गोपनीयता की शपथ दिलाई है। सबसे भाजपा के वरिष्ठ विधायक  गोपाल भार्गव ने कैबिनेट मंत्री की शपथ ली और फिर विजय शाह, जगदीश देवड़ा, बिसाहूलाल सिंह, यशोधरा राजे सिंधिया, भूपेंद्र सिंह एंदल सिंह कंसाना और बृजेंद्र प्रताप सिंह कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली। विश्वास सारंग, इमरती देवी, प्रभुराम चौधरी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, ओम प्रकाश सकलेचा, उषा ठाकुर और अरविंद सिंह भदौरिया ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ले चुके हैं। वही भरत सिंह कुशवाह ,इंदर सिंह परमार ,रामखिलावन पटेल , रामकिशोर कांवरे, बृजेंद्र सिंह यादव , गिरिराज डिंडौतिया, सुरेश धाकड़ और ओपी भदौरिया ने राज्यमंत्री की शपथ ली। इसके बाद शपथ ग्रहण समारोह समाप्त हुआ। कुल 28मंत्रियों को शपथ दिलाई और पांच मंत्री पहले ही कैबिनेट में शामिल है, ऐसे मेंकुल मंत्रियों की संख्या अब 33 हो गई है । शपथ के बाद मंत्रियों में एक दूसरे को बधाई देने का सिलसिला शुरु हो गया है।अब इन 28 मंत्रियों में विभागों का बंटवारा किया जाएगा।इसमें देखना दिलचस्प होगा की सिंधिया समर्थकों और भाजपा के मंत्रियों को कौन कौन सा विभाग मिलता है।खास बात ये है कि देशभर की निगाहें इस मंत्रिमंडल पर टिकी हुई थी और विभागों के बंटवारे को लेकर सबको इंतजार है।
कार्यक्रम से पहले शिवराज ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को 20 कैबिनेट और 8 राज्यमंत्रियों की लिस्ट सौंपी। बताया जा रहा है कि पुराने चेहरों में पारस जैन, गौरीशंकर बिसेन, रामपाल सिंह, राजेंद्र शुक्ला, संजय पाठक, जालम सिंह पटेल और सुरेंद्र पटवा को लेकर सहमति नहीं बनी। लिहाजा इनके नामों पर देर रात तक असमंजस बरकरार रहा।देर रात तक चले मान मनौव्वल के दौर में प्रदेश प्रभारी विनय सहस्रबुद्धे ने पार्टी के सीनियर विधायकों से वन टू वन चर्चा की और फोन पर बात कर मनाने और समझाने की कोशिश की।
बताया जा रहा है कि पार्टी सीनियर विधायकों को घर बैठाने में सफल साबित हुई है। मंत्रिमंडल में अब नए चेहरों और खासतौर से सिंधिया समर्थकों को मौका दिया जा रहा है।पुराने चेहरों में पारस जैन, गौरीशंकर बिसेन, रामपाल सिंह, राजेंद्र शुक्ला, संजय पाठक, जालम सिंह पटेल और सुरेंद्र पटवा को लेकर सहमति नहीं बनी। लिहाजा इनके नामों पर देर रात तक असमंजस बरकरार रहा।
इन विधायकों के बंगलों पर पसरा सन्नाटा
इधर बीजेपी में पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन और रामपाल सिंह को अंतिम क्षणों तक मंत्री पद को लेकर उम्मीद कायम थी। किंतु अचानक से कैबिनेट में जगह नहीं मिल पाने पर उनके अंदर हताशा और निराशा छा गई है। जहां एक तरफ नवनियुक्त मंत्रियों के घर पर भीड़ इकट्ठा दिखाई दे रही है। वही दूसरी तरफ पूर्व मंत्रियों के घर पर सन्नाटा पसरा हुआ है। हालांकि उनका कहना है कि वह पार्टी के साथ हैं लेकिन यह स्पष्ट है कि चीज है जिस तरह दिखाई दे रही है, उस तरह नहीं है।

कैबिनेट मंत्री

– गोपाल भार्गव

– विजय शाह

– जगदीश देवड़ा

– बिसाहू लाल सिंह

– यशोधरा राजे सिंधिया

– भूपेंद्र सिंह

– एदल सिंह कंषाना

– बृजेंद्र प्रताप सिंह

– विश्वास सारंग

– इमरती देवी

– प्रभुराम चौधरी

– महेंद्र सिंह सिसौदिया(संजू भैया)

– प्रद्युमन सिंह तोमर

– प्रेम सिंह पटेल

– ओमप्रकाश सकलेचा

– उषा ठाकुर

– अरविंद भदौरिया

– डॉ. मोहन यादव

– हरदीप सिंह डंग

– राजवर्धन सिंह प्रेमसिंह दत्तीगांव

राज्यमंत्री

– भरत सिंह कुशवाह

– इंदर सिंह परमार

– रामलेखावन पटेल

– राम किशोर कांवरे

– बृजेंद्र सिंह यादव

– गिर्राज दंडौतिया

 

 



 



 















ReplyForward













 

 








 

 







 







 




 





 




 



 



 


 


 




















 

 

 



 

 

 



 

 

 


 


 

 

 







 

 





 



 





 


 







 

 


 






नेपाली पीएम ले सकते हैं बड़ा फैसला





















काठमांडू। नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली आज देश को संबोधित कर सकते है। देश को संबोधित करने से पहले राष्ट्रपति से मिलेंगे प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली। मुलाकात के दौरान कोई बड़ा फैसला हो सकता है। हाल ही में कम्युनिस्ट पार्टी के दूसरे अध्यक्ष पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ सहित वरिष्ठ नेताओं ने ओली से इस्तीफा मांगा था। नेपाली प्रधानमंत्री ओली पर चीन के इशारे पर चलने और अपने देश में भारत विरोधी भावनाओं को हवा देने का भी आरोप लगा है। स्टैंडिंग कमिटी के एक सदस्य के मुताबिक, दहल, माधव कुमार नेपाल, झालानाथ खनल और बामदेव गौतम ने मंगलवार को ओली सरकार को नाकाम करार दिया और पद छोड़ने की मांग की। इतना ही नहीं ओली से प्रधानमंत्री के साथ-साथ पार्टी अध्यक्ष का पद भी छोड़ने को कह दिया गया है। गौरतलब है कि केपी शर्मा ओली की सरकार विवादों में घिर रही है।कुशासन, भ्रष्टाचार और अब कोविड-19 को लेकर नाकामी को लेकर ओली जनता और विपक्ष के साथ ही पार्टी के दूसरे नेताओं के निशाने पर रहे हैं।ओली ने भारतीय इलाकों को शामिल करते हुए देश का नया नक्शा जारी किया। उन्होंने राष्ट्रवाद के सहारे अपने खिलाफ उठती आवाजों को दबाने का प्रयास किया, लेकिन माना जा रहा है कि वह अपनी कुर्सी नहीं बचा पाएंगे।



















ReplyForward









 



 




 



 



 


 


 











 










यूजीसी जारी कर सकता है गाइडलाइन

 विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) अंतिम वर्ष की परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर के बारे में जल्द ही जारी कर सकता हैं संशोधित दिशा-निर्देश। समाचार एजेंसी पीटीआई ने 24 जून को बताया था कि उच्च शिक्षा नियामक द्वारा एक सप्ताह के अंदर ही संशोधित दिशानिर्देशों की घोषणा की जा सकती है।

नई दिल्ली। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) अंतिम वर्ष की परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर के बारे में जल्द ही संशोधित दिशानिर्देशों को जारी कर सकता है। दरअसल, समाचार एजेंसी पीटीआई ने 24 जून को बताया था कि उच्च शिक्षा नियामक द्वारा एक सप्ताह के अंदर ही संशोधित दिशानिर्देशों की घोषणा की जा सकती है। रिपोर्ट्स में अधिकारियों के हवाले से कहा गया था कि विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों में अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए परीक्षा जो जुलाई में आयोजित की जानी थी, उन्हें COVID-19 मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए रद्द करने और नए सत्र को अक्टूबर तक टालने की संभावना है।

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 24 जून को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) से अप्रैल में जारी की गई यूनिवर्सिटी के सेमेस्टर एग्जाम और अकेडमिक कैलेंडर पर अपने दिशानिर्देशों को संशोधित करने के लिए कहा था। मंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा था, "मैंने UGC को इंटरमीडिएट और टर्मिनल सेमेस्टर परीक्षाओं और शैक्षणिक कैलेंडर के लिए पहले जारी हो चुकी गाइडलाइन्स को फिर से जारी करने की सलाह दी है।

संशोधित गाइडलाइन्स की नींव छात्रों, शिक्षकों और कर्मचारियों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को ध्यान में रखकर बनाई जाएंगी। वहीं, इस बीच महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और हरियाणा ने सभी विश्वविद्यालय के छात्रों के लिए परीक्षा रद्द करने का फैसला किया है। इन राज्यों में छात्रों को उनके पिछले प्रदर्शन के आधार पर पास किया जाएगा। अधिकारी ने ये भी जानकारी दी थी कि पिछले प्रदर्शन के आधार पर मिले अंकों से जो छात्र संतुष्ट नहीं होंगे, तो उन्हें बाद में स्थिति सामान्य होने के बाद परीक्षा में बैठकर अपने स्कोर को बेहतर करने का मौका दिया जाएगा। अधिकारी ने मिली जानकारी के मुताबिक, "इसी तरह नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत, जो पहले से रजिस्टर स्टूडेंट्स के लिए अगस्त में और फ्रेशर्स के लिए सितंबर के महीने में होने वाली थी, उसके अब अक्टूबर तक स्थगित होने की संभावना है। इस मामले पर विचार-विमर्श जारी है और अंतिम दिशा-निर्देश जल्द ही घोषित किए जाएंगे. हालांकि, दिशानिर्देश को कोविड-19 स्थिति की समीक्षा के आधार पर जारी किया जाएगा। "बता दें कि देशभर में कोरोनावायरस महामारी के चलते सभी स्कूल और शैक्षणिक संस्थान मार्च के महीने से ही बंद हैं। वहीं, हाल ही में गृह मंत्रालय की तरफ से जारी हुई अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स में सभी स्कूल, क़ॉलेज और संस्थान को 31 जुलाई तक बंद रखने के आदेश दिए गए हैं।

434 लोगों की मौत, 19,148 संक्रमित

 नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। भारत भी कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इस महामारी का संकट भारत में हर दिन बढ़ता जा रहा है। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से गुरुवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक कोरोना संक्रमण के 19,148 नये मामलों के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 6,04,641 हो गई है। पिछले 24 घंटों के दौरान इस संक्रमण से 434 लोगों की मौत हुई है, जिससे मृतकों की संख्या बढ़कर 17,834 हो गई है। इसी अवधि में 11,881 रोगी संक्रमणमुक्त हुए हैं, जिन्हें मिलाकर अब तक कुल 3,59,860 मरीज रोगमुक्त हो चुके हैं। देश में अभी कोरोना संक्रमण के 2,26,947 सक्रिय मामले हैं।


गूगल का सर्वर डाउन, हुई दिक्कत

नई दिल्ली। गूगल का सर्वर डाउन होने से भारत के करोड़ों यूजर्स को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। यूजर्स ने इसके लिए बकायदा हैशटैग चलाकर अपनी दिक्कत साझा की।



भारत में Google की कई सर्विसेज के सर्वर डाउन होने से भारतीय यूजर्स को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। Google सर्वर डाउन होने के बाद यूजर्स ने #Gmaildown हैशटैग चलाकर अपनी दिक्कत पोस्ट की। गूगल यूजर्स का ये हैशटैग देखते ही देखते सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर टाप ट्रेंड करने लगा। यूजर्स के मुताबिक गूगल की कई सर्विसेज जैसे जीमेल, प्ले स्टोर और गूगल क्लाउड को एक्सेस करने में यूजर्स को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।



यूजर्स के मुताबिक जो भी लोग एयरटेल ब्राडबैंड इस्तेमाल कर रहे थे उनको गूगल सर्वर ने खूब रुलाया। जानकारी के मुताबिक भारत के साथ साथ कई अन्य देशों में भी गूगल सर्वर डाउन रहा। इसके चलते कई देशों के यूजर्स घंटो परेशान रहे। हालांकि, गूगल की तरफ से अभी तक सर्वर डाउन होने की वजह को लेकर कोई खुलासा नहीं किया गया है।


सैनिकों की मौत छिपाई, चीन में गुस्सा

खतरे में जिनपिंग सरकार? सैनिकों की मौत छिपाने से चीन में गुस्सा, सेना में बगावत मुमकिन



लद्दाख। गलवन घाटी में भारतीय सैनिकों के साथ उलझना चीन की कम्युनिस्ट सरकार के लिए बहुत भारी पड़ रहा है। जिनपिंग सरकार ने गलवान में 40 से ज्यादा सैनिकों की मौत को छिपाया जिससे पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के पूर्व दिग्गजों और मौजूदा जवानों के बीच इस कदर नाराजगी बढ़ती जा रही है कि वो कभी भी सरकार के खिलाफ सशस्त्र विद्रोह कर सकते हैं। वाशिंगटन पोस्ट के ओपिनियन में चाइनीज कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के एक पूर्व नेता के पुत्र और चीन के लिए सिटीजन पावर इनिशिएटिव के अध्यक्ष जियानली यांग ने इसका खुलासा किया। जियानली ने लिखा कि लंबे समय से पीएलए चीन की सत्ता का मुख्य हिस्सा रहा है। अगर देश की सेवा में कार्यरत पीएलए कैडर की भावनाएं आहत होती हैं तो ये रिटायर सैनिकों के साथ मिलकर देश की सरकार के खिलाफ मोर्चाबंदी करेगा।


वाशिंगटन पोस्ट में प्रकाशित लेख में कहा गया है कि बीजिंग को डर है कि अगर वह यह मान लेता है कि भारत से ज्यादा उसके अपने सैनिक मारे गए थे तो देश में अशांति फैल सकती है और सीसीपी की सत्ता भी दांव पर लग सकती है। यांग ने लिखा है, ‘सीसीपी की सरकार के लिए पीएलए ने अब तक एक मजबूत स्तंभ की तरह काम किया है। अगर पीएलए के मौजूदा सैनिकों की भावनाएं आहत होती हैं और वे लाखों दिग्गजों (इनमें पीएलए के वो सदस्य शामिल हैं जो शी से नाराज हैं..जिनमें पीएलए को व्यवसायिक गतिविधियों से अलग करने की शी की मुहिम के विरोधी हैं) के साथ आ जाते हैं तो शी के नेतृत्व को मजबूती के साथ चुनौती दे सकते हैं।’


उन्होंने कहा कि चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान से जब पूछा गया कि इस झड़प में कितने सैनिक मारे गए तो उन्होंने साफ कह दिया कि इस बारे में उनके पास कोई जानकारी ही नहीं ही। अगले दिन जब उनसे भारतीय मीडिया की खबरों का हवाला दिया, जिसमें चीन के 40 से ज्यादा सैनिकों के मारे जाने की बात थी तो उन्होंने इसे गलत सूचना करार दे दिया।


फारुख खान



सड़क जैसी सुविधा से वंचित लोग

हमीरपुर। वर्तमान समय में भी ऐसे क्षेत्र हैं जो अब भी सड़क सुविधा से वंचित हैं। इनमें से एक ऐसी ही बस्ती है पुखरू। जो कि रक्कड़ तहसील की ग्राम पंचायत कुड़ना-सलेटी के अंतर्गत आती है। स्थानीय ग्रामीणों की मानें तो उनकी बस्ती को आज तक सड़क सुविधा नसीब नहीं हो पाई है।
गौरतलब है कि सड़क मार्ग बनने से पुखरू बस्ती मुख्य सड़क सुविधा से जुड़ जायेगी और इससे सभी स्थानीय निवासी लाभान्वित होंगे। वहीं जानकारी के मुताबिक उक्त बस्ती के लिए जहां से सड़क का निर्माण किया जाना है, वहां वन विभाग की भूमि भी है। हालांकि ग्रामीणों की मानें तो ग्रामसभा में सड़क निर्माण सम्बंधी प्रस्ताव भी डाला गया और माननीय प्रदेश उद्योगमंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर को भी उक्त समस्या से अवगत करवाया गया, लेकिन उक्त सड़क का निर्माण कार्य कागजों में ही सिमट कर रह गया। हालात यह हैं कि स्थानीय निवासियों को आज भी पैदल दूरी तय करनी पड़ती है। वहीं सबसे अधिक परेशानी तब होती है जब कोई बीमार होता है या फिर मकान इत्यादि बनाने का सामान लाना पड़ता है। बहरहाल, स्थानीय निवासियों में विनोद कुमार, मुकेश राणा, जुल्फी राम, सुखदेव सिंह, नरेश कुमार, रणजीत सिंह, बलदेव सिंह, कमलेश कुमारी, रसालो देवी, माया देवी, सुनीता व प्रियंका आदि ने प्रशासन व प्रदेश सरकार से उनके गांव को सड़क सुविधा उपलब्ध करवाने की गुहार लगाई है।


क्या कहते हैं पंचायत प्रतिनिधि-
इस बारे कुड़ना-सलेटी पंचायत के प्रधान पूर्ण चन्द ने बताया कि उक्त बस्ती के लिए सड़क निर्माण सम्बंधी ग्रामसभा में प्रस्ताव डाला गया था, लेकिन अभी तक मार्ग को स्वीकृति नहीं मिल पाई है, वहीं उन्होंने कहा कि पुखरू बस्ती के लिए सड़क का निर्माण किया जाना आवश्यक है, क्योंकि सड़क सुविधा न होने से स्थानीय निवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।


मनोज सिंह ठाकुर


अगस्त में देश को समर्पित होगी सुरंग

मंडी। हिमाचल प्रदेश के सीएम जय रामठाकुर आज अपने गृह जिला मंड़ी में पहुंचे हुए है। इस दौराना उन्होंने विपाशा सदन मंडी में जिले के अधिकारियों से बैठक कर विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा करेंगे। इसके बाद उनके अन्य कार्यक्रम भी हैं। सीएम दोपहर बाद मनाली का दौरा करेंगे।मनाली में बीआरओ अधिकारियों के साथ महत्‍वपूर्ण बैठक भी करेंगे, इसमें रोहतांग सुरंग के कार्य को लेकर चर्चा की जाएगी। अगस्त में सुरंग देश को समर्पित करने की तैयारी है।


75 वर्षीय बुजुर्ग महिला से दुष्कर्म

नाहन। संगड़ाह उपमंडल के नौहराधार इलाके में 75 वर्षीय बुजुर्ग महिला से दुष्कर्म (Rape) का मामला सामने आया है। मामला 30 जून की रात का है। इस मामले में पीड़िता की बहू ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। मामले में पुलिस ने व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। पीड़िता की बहू (Daughter-in-law) के अनुसार रात उसे करीब 12 बजे सास के चीखने की आवाज सुनाई दी। उसने अपने पति को जगाया और बाहर आए तो देखा कि सास के कमरे का दरवाजा बाहर से बंद था और आरोपी मौके से फरार हो चुका था। जब उन्होंने दरवाजा खोलकर अंदर जाकर देखा तो बुजुर्ग महिला डरी हुई थी और उसके कपड़े फटे हुए थे। वह कुछ बोल नहीं पा रही थे।.वारदात से सहमी पीड़िता ने सिर्फ इतना बताया कि मनीष ने उसके साथ गलत काम किया है। इसके बाद महिला का मेडिकल कराया गया। मेडिकल रिपोर्ट जांच के लिए भेजी जा रही है। संगड़ाह पुलिस थाना प्रभारी जीतराम भारद्वाज ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया जा चुका है। पुलिस मामले की तफ्तीश में जुटी है।


राकेश शर्मा


दलालों के सामने शासन-प्रशासन लाचार

 गाजीपुर। जनपद लखीमपुर-खीरी में तीन ठग अपनी दलाली की दुकान चलाने के लिए एक महिला पत्रकार का मनोबल तोड़ने के लिए अपनी नामर्दी का सुबूत दे रहे हैं। जिसमें एक व्यक्ति अपने नाम के आगे डाक्टर लिखता है। खोजी पत्रकार लिखता है जो डाक्टर के नाम का दुरूपयोग कर घर पर झोला छाप डाक्टरी कर एक दो मरीज भी देख लेता है। दोषी को फौरन सजा दी जाए गिरफ्तार कर जेल तत्काल भेजा जाय। सच में उस दरिन्दा को महिलाओं के व्यक्तिगत जिंदगी में घुसकर उनकी जान जोखिम में डालने के लिए समाज में उन्हें कहीं का ना, रखने के लिए पोस्टर वायरल कराता है। घटिया काम करने वाला अपने नाम के आगे वरिष्ठ पत्रकार लिखता है। नाम है अखलाक अहमद खां,जो न वरिष्ठ है न खोजी हैं न डॉक्टर हैं न ही पत्रकार हैं सूचना विभाग में कोई जानता तक नहीं इनको जो भड़काने में लगे हैं। इनके चेले सियाराम गौड़ जो राइटर लिखते हैं। जिन्हें दूसरो की बहन बेटी की व्यक्तिगत जिंदगी पर गंदी गंदी बातें लिखना अपमानित करना महिलाओं को झुकाना समाज में कहीं का ना रखना इतना गंदा लिखना कि कोई इनकी ओछी मानसिकता से पता लगा सकता है कि ये लोग बहन बेटीयो का सौदा करने वाले हैं इतना गंदा लिखने के बाद इन्हें शर्म नहीं आती है। अपने नाम के आगे राइटर लिखते हैं। उल्टा सीधा लिखना दाम पैदा करना और इनके बारे में अगर कोई सच लिखें तो बौखला जाते है। तीसरे महाश्य हैं। सुनील पांडे वह हर खबर को झूठी पोस्ट वायरल करना, फोन वार्ता पर पत्रकार को अनपढ़ निर्दोष लोगों को फंसाना, आप चाहे तो तीनों फर्जी पत्रकार से पत्रकारिता का सबूत मांगे, अगर नहीं हैं तो सोशल मीडिया पर न्यूज़ ग्रुपों में अपनी व्यक्तिगत भड़ास निकालने के लिए किसी महिला पत्रकार के चरित्र पर उंगली उठा कर ग्रुप में अभद्र चीजे वायरल करना ग्रुप में व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए इस तरह का कुकृत्य करना ग्रुप एडमिनओं को इस ओर ध्यान देना चाहिए। फिर वही कहना पड़ता है अगर यह मर्द होते तो किसी मर्द पर इस तरह से लगातार अपमान करते तो, वह मिनट में इनको गिरा गिरा कर पीट पीटकर कुत्ता बना देता, क्योंकि नारी कमजोर होती है जिसका फायदा उठाकर यह तथाकथित पत्रकार के नाम पर दलाली करने वाले सिर्फ विरोधियों से मिलते हैं इनका बस चले तो यह अपनी बेटी का सौदा करते, दाम के खातिर जबकि इनके विरुद्ध आईटी एक्ट में मुकदमा 0705/2020 धारा 506,67 दिनांक 19.06.2020 दर्ज है। उसके बाद ग्रुप में खबर वायरल करना इनकी हिम्मत की दाद देनी होगी लोग कहते हैं इंसान से लड़ सकते हो नीच से नहीं। इन लोगों ने नीचता की सारी हदें पार कर ली है। जो एक नारी के व्यक्तिगत जीवन पर कटाक्ष कर उसके जीवन को अंधेरे में ढकेले उससे बड़ा कोई गंदा काम नहीं है। लगातार महिला से अभद्रता प्रकरण पर खबरें प्रकाशित हो रही हैं। सरेआम पत्रकार का  अपमान होता है। सूत्र बताते है पर सूबे की योगी सरकार व जिला प्रशासन महिला पत्रकार पर हो रहे जुर्म को देख और जानकर अनजान बना हुआ है। जिससे साफ जाहिर होता है कि इन तीनो दलालो के आगे सरकार क्यो बेबस नजर आ रही है। जिससे अखलाक अहमद खां, सियाराम गौड़, सुनील पांडे के हौसले बुलंद है। जब एक महिला पत्रकार इस जिले में भ्रष्टाचार की आवाज़ उठाएं तो उसके स्वर दबाने के लिए यह तीन दलाल लगा दिए जाते हैं। तो अन्य पीड़ितों का क्या होगा जो पत्रकारों के पास न्याय मांगने आते हैं।


3 महीने से नहीं मिला वेतन, हलकान

मार्च से जून तक का वेतन नहीं मिलने से निगम-कर्मचारी हलकान

नई दिल्ली। उत्तरी दिल्ली नगर निगम के हालात और बदतर हो गए हैं। कर्मचारियों का चार महीने का वेतन नहीं मिल पाने की वजह से कर्मियों में आंदोलन का मूड जोर पकड़ता जा रहा है। शिक्षकों और पेंशनर्स के मामले में कोर्ट से फटकार पड़ने के बाद भी निगम अधिकारियों ने कोई प्रयास शुरू नहीं किये हैं। अब हालात यह हैं कि डॉक्टर्स की सेलरी नहीं मिलने की वजह से नगर निगम के आला अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो सकती है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम के सी एवं डी श्रेणी के कर्मचारियों और डॉक्टर्स को मार्च तक का ही वेतन दिया गया है। इसके चलते निगम के डॉक्टर्स की तीन महीने की सेलरी बकाया है। जबकि बाकी ए व बी श्रेणी के अधिकारियों को पिछले 4 महीनों से वेतन नहीं दिया गया है। खास बात है कि सेलरी मिलने में हो रही देरी हर महीने और ज्यादा बढ़ती जा रही है। वेतन मिलने में हो रही लगातार देरी की वजह से निगमकर्मी आंदोलन के मूड में आ गए हैं। कर्मचारियों की अलग अलग एसोसिएशनें विरोध-प्रदर्शन की भूमिका बनाने में जुट गई हैं। बुधवार को निगम कर्मियों के कुछ संगठनों से जुड़े कर्मचारियों ने वेतन की मांग को लेकर महापौर जय प्रकाश से मुलाकात की। हालांकि जय प्रकाश ने भरोसा दिलाया है कि जल्दी ही समस्या का समाधान निकाल लिया जाएगा। कानूनी कार्रवाई की तैयारी में एमसीडीए
 सेलरी न मिलने से परेशान उत्तरी दिल्ली नगर निगम के डॉक्टर्स की एसोसिएशन भी आक्रामक मुद्रा में आ गई है। म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन डॉक्टर्स एसोसिएशन (एमसीडीए) ने मामले के कानूनी पहलुओं पर विचार करना शुरू कर दिया है। मोदी सरकार ने कोरोना को महामारी घोषित कर दिया है। इसमें डॉक्टर्स को लेकर कुछ विशेष दिशानिर्देश जारी किये गए हैं। इनमें सबसे बड़ी बात डॉक्टर्स को समय पर सेलरी देने की है। एसोसिएशन के एक पदाधिकारी ने बताया कि जल्दी ही हम इस मामले में कानूनी कदम उठाएंगे।
केंद्र सरकार की ओर से जारी दिशानिर्देशों की अवहेलना पर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करने की बात भी कही गई है। ऐसे में यदि सेलरी का मामला ज्यादा लंबा खिंचता है तो निगम का स्वास्थ्य विभाग संभालने वाले अतिरिक्त आयुक्त भी कानूनी कार्रवाई के दायरे में आ सकते हैं।
कोर्ट ने नगर निगम को लगाई फटकार
कोर्ट ने नगर निगम के टीचर्स और पेंशनर्स को लेकर पहले ही उत्तरी दिल्ली नगर निगम को लताड़ लगाई है। निगम की ओर से कोर्ट में पेश वकील ने कहा था कि कोरोना की ड्यूटी पर लगे 5 हजार टीचर्स को सेलरी दे दी गई है। तब कोर्ट ने कहा था कि बाकी के टीचर्स ने क्या गुनाह किया है कि उन्हें सेलरी नहीं दी गई? बता दें के उत्तरी दिल्ली नगर निगम के करीब 9 हजार टीचर्स और करीब 24 हजार पेंशनर्स की सेलरी का मामला दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचा था।
फिलहाल अतिरिक्त आयुक्त का कार्यभार रश्मि सिंह के पास है।


सीएमओ को गुलदस्ता देकर किया सम्मान

डॉक्टर दिवस पर स्वच्छ भारत मिशन की जिला कोर्डिनेटर जसलीन कौर ने चिकित्साधिकारी डॉ बीएस सोढी को गुलदस्ता देकर किया सम्मान...

चिकित्सकों ने कोरोना पीड़ितो को दिया जीवनदान-जसलीन कौर...

सहारनपुर। नेशनल डॉक्टर्स डे के अवसर पर बुधवार को चिकित्साधिकारी डॉ बीएस सोढ़ी को स्वच्छ भारत मिशन की जिला कोर्डिनेटर जसलीन कौर ने गुलदस्ता देकर सम्मानित किया गया। चिकित्सकों के प्रति आभार जताते हुए जसलीन कौर ने कहा कि अपने सुख-चैन का त्याग कर दूसरों की भलाई के लिए काम करने वाले चिकित्सकों के जज्बे को सलाम है। वर्तमान में ये कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि चिकित्सकों का हमारे जीवन में काफी महत्व है। कि हमें स्वस्थ रखने में डॉक्टरों की बड़ी भूमिका होती है। अपने सुख-चैन को त्याग कर दूसरों की भलाई के लिए काम करते हैं। आज कोरोना संकट में हमारे लिए अपनी जान की परवाह किये बिना जिस तरह वो अपना कर्तव्य निभा रहे हैं, वो समाज के लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

जसलीन कौर ने आमजन को सन्देश देते हुए कहा कि डॉक्टरों का सम्मान करें ओर आपने आसपास साफ सफाई का ध्यान रखे गन्दगी को ना फैलने दे।

 

रिपोर्ट: ज़िक्रिया खान/औरंगजेब खान/अरशद अंसारी

पुलिस ने चलाया सघन चेकिंग अभियान

तीतरो पुलिस ने चलाया चेकिंग अभियान,उलंघन करने वाले बिना मास्क,लाइसेंस, हेलमेट,ट्रीपल सवारी करने वाले लोगों पर हुई कार्रवाई...

सहारनपुर। एसएसपी डॉ एस चन्नपा व एसपी देहात अशोक कुमार मीणा व गंगोह क्षेत्राधिकारी के आदेशानुसार 

थानाध्यक्ष सत्येंद्र राय ने एसआई  मुकेश दिनकर व एसआई बलवान सिंह के साथ  बुधवार की शाम को तीतरो सालियर चौक पर वाहन चेकिंग अभियान चलाया।

चेकिंग अभियान से लोगो मे मचा रहा हड़कम्प। चेकिंग अभियान में टू व्हीलर,फ़ॉर व्हीलर पर बिना मास्क,हेलमेट,लाइंसेंस वाले लोगों का चालान किया गया है। कुछ को सख्त हिदायत देकर छोड़ा गया।

थानाध्यक्ष सत्येंद्र राय* ने बताया कि ये लोग बिना मास्क लगाए सड़क पर बिना मास्क,ट्रिपल सवारी व संदिग्ध व्यक्तियो का चैकिंग अभियान चलाया जा रहा। ओर लोगो से मास्क व सोशेल डिस्टेंसीग का भी पालन कराया जा रहा है।

 

रिपोर्ट: ज़िक्रिया खान/औरंगजेब खान/अरशद अंसारी

पत्रकार संघ की बैठक, लिए कई निर्णय

छग श्रमजीवी पत्रकार कल्याण संघ कटघोरा-पोड़ी उपरोड़ा ब्लाक इकाई की बैठक में प्रदेश पदाधिकारी हुए शामिल, पत्रकार हित में लिए गए निर्णय

कोरबा(कटघोरा)। छग श्रमजीवी पत्रकार कल्याण संघ कटघोरा-पोड़ी उपरोड़ा ब्लाक इकाई द्वारा बीते 28 जून को कसनिया स्थित काके भोजनालय में आवश्यक बैठक आहूत किया गया।जिसमें संघ के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष देवदत्त तिवारी, कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष आर डी गुप्ता, संभागीय उपाध्यक्ष संदीप गुप्ता, वरिष्ठ पत्रकार बिलासपुर तपन गोस्वामी एवं उमाकांत मिश्रा मुख्य रूप से शामिल हुए। बैठक में ब्लाक पदाधिकारियों एवं सदस्यों द्वारा अपनी-अपनी समस्याएं सामने रखी गई।जिसका प्रदेश पदाधिकारियों द्वारा सर्वसम्मति एवं शांतिपूर्ण तरीके से निराकरण किया गया।साथ ही पत्रकार हित में निर्णय लेते हुए एकजुटता एवं आपसी सहमति बनाए रखने के साथ सदस्यता बढ़ाने के विषय पर चर्चा किया गया।

इस दौरान उपस्थित पूर्व प्रदेशाध्यक्ष देवदत्त तिवारी द्वारा उपस्थित पत्रकारों से संबोधन में कहा गया कि संघ की ताकत एक से नही एकता से है।अतः संघ में एकजुटता हमेशा बनाए रखें ताकि पत्रकार पर आए किसी भी संकट या समस्या का सामना एकजुट होकर किया जा सके।क्योंकि जिस प्रकार एक लकड़ी को कोई भी आसानी से तोड़ मरोड़ सकता है।लेकिन यदि चार लकड़ी एक साथ मिला दिया जाए तो उसे तोड़ पाना काफी मुश्किल होता है।संघ की ताकत कुछ ऐसी ही है।वहीँ आर डी गुप्ता द्वारा कहा गया कि आज ग्रामीण पत्रकारों को सहयोग की अधिक आवश्यकता है।क्योंकि वहीँ ग्रामीण पत्रकार कहें या प्रेस प्रतिनिधि अपने आसपास के साथ अपने क्षेत्र में व्याप्त समस्याओं, ज्वलंत मुद्दों को खबर के रूप में सामने लाकर शासन-प्रशासन का ध्यान आकर्षित कराता है।लेकिन इस दौरान कई बार वे पत्रकार किसी भी प्रकार के संकट से घिर जाते है और उन्हें मदद की नितांत आवश्यकता होती है।ऐसे ग्रामीण पत्रकारों को संघ से जोड़कर एकजुटता का परिचय देते हुए उनके कार्यक्षेत्र में हौसला बढ़ाने की जरूरत है।ताकि वे अपने अधिकारों का निष्पक्ष प्रयोग कर सके।इस प्रकार बैठक में पत्रकार हित को लेकर एकजुटता एवं आपसी सामंजस्य बनाकर कार्य करने की बातें कही गई।बैठक में मुख्य रूप से कटघोरा-पोड़ी उपरोड़ा ब्लाक इकाई के संरक्षक प्रदीप जायसवाल, राजेश श्रीवास, फिरत दास अध्यक्ष महेश कुरे, उपाध्यक्ष भोला गोस्वामी, सचिव प्रमोद दीवान, सह सचिव राजेश जायसवाल, सदस्य उपेश्वर नायक, गौरव सिंह, विजय कुमार, यशपाल राज, हीरादास, रितेश कुमार, तखत राम, नरेश चौहान, प्रवीण रात्रे, बृजकिशोर गुप्ता, देवेंद्र नेटी, प्रकाश महंत, प्रियेश महंत के अलावा पाली ब्लाक अध्यक्ष कमल महंत, उपाध्यक्ष गणेश महंत, सहसचिव ओम जायसवाल, सदस्य आशीष (बजरंग) जायसवाल उपस्थित रहे

मेरठः घर-घर होगी कोरोना की स्क्रीनिंग

मेरठ मंडल में आज से घर-घर शुरू होगी कोरोना की स्क्रीनिंग, 31 जुलाई तक चलेगा विशेष अभियान

मेरठ। कोविड-19 (COVID-19) के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग गुरुवार से मेरठ मंडल में स्पेशल सर्विलास की शुरुआत करने जा रहा है। इसके तहत मेडिकल की टीमें घर-घर जाकर कोरोना की संदिग्ध मरीजों की जांच करेंगी। इतना ही नहीं कोरोना संक्रमित मिलने पर उसे तुरंत हॉस्पिटल में एडमिट कराया जाएगा। पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर शुरू हो रहे स्क्रीनिंग अभियान के तहत हर घर की मार्किंग भी की जाएगी।

1400 टीमें लगाई गईं...

आज से शुरू हो रहे इस महाभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग की 1400 टीमें घर-घर जाएंगी। मेडिकल स्क्रीनिंग के दौरान किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण पाए जाने पर उसका पल्स औक्सिमीटर और रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाया जाएगा। जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उसे तत्काल हॉस्पिटल में एडमिट कराया जाएगा। इस मेगा स्क्रीनिंग अभियान का मुख्य उद्देश्य कम्युनिटी खतरे को कम करना व जांच में तेजी लाना है। ताकि कोरोना महामारी पर नियंत्रण पाया जा सके। मेरठ मंडल के बाद सभी 17 मंडलों में डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग शुरू की जाएगी।

यूपी के हर घर की स्क्रीनिंग...

गौरतलब है कि गत रविवार को यूपी के मुख्य सचिव आरके तिवारी ने अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा की और अधिकारियों को निर्देश दिया कि प्रदेश के शत-प्रतिशत घरों की स्क्रीनिंग की व्यवस्था के लिए रणनीति तैयार की जाये। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से कहा कि पल्स पोलियो अभियान के तर्ज पर मेडिकल स्क्रीनिंग के समय घरों की मार्किंग भी की जाए। मेडिकल स्क्रीनिंग के दौरान किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण पाए जाने पर उसका पल्स औक्सिमीटर और रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाए जाएं। संक्रमित होने की दशा में उन्हें तत्काल कोविड अस्पताल में भर्ती करवाया जाए। अब इसकी शुरुआत मेरठ मंडल से हो रही है।  जानकारी प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने दी।

मास्टरबेट करने वाला थाना अध्यक्ष अरेस्ट

महिलाओं के सामने मास्‍टरबेट करने वाला दरोगा गिरफ्तार, नौकरी से बर्खास्त

लखनऊ/देवरिया। महिलाओं के सामने गंदी व अश्लील हरकत करने वाले देवरिया के भटनी थाने के पूर्व थानाध्यक्ष भीष्मपाल सिंह यादव को गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त एक्शन लेते हुए आरोपी दरोगा को पुलिस सेवा से बर्खास्त भी कर दिया है। बता दें कि युवती की तहरीर पर मुकदमा कायम होने के बाद से ही इंस्पेक्टर भीष्मपाल सिंह यादव फरार चल रहा था। उसकी गिरफ्तारी के लिए 25 हजार का इनाम भी घोषित किया गया था। बुधवार को एसओजी टीम द्वारा हरैया जनपद बस्ती के पास से अभियुक्त भीष्मपाल सिंह को गिरफ्तार किया गया।गौरतलब है कि महिलाओं के सामने थाने में मस्टरबेट करने का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस अधीक्षक ने इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया था। साथ ही युवती की तहरीर पर थाना भटनी में आईपीसी की धारा 354(क)/509/166 मुकदमा पंजीकृत किया गया है। उसके बाद से ही निलम्बित निरीक्षक भीष्मपाल सिंह के फरार हो गया था। जिसके बाद उसके ऊपर 25,000 रुपये का पुरस्कार घोषित किया गया था। साथ ही इस निलम्बित निरीक्षक को पुलिस उपमहानिरीक्षक, गोरखपुर परिक्षेत्र द्वारा तत्काल प्रभाव से पुलिस सेवा से बर्खास्‍त कर दिया गया है।

पौने तीन मिनट का है वीडियो..

पौने तीन मिनट के वायरल वीडियो में दिख रहा है कि दो महिलाएं शिकायत लेकर थाने पहुंची हैं। एक महिला इंस्पेक्टर के बायीं तरफ बैठी है। अनुमान लगाया जा रहा है कि वह पूर्व की परिचित रही होगी। वहीं, एक महिला सामने बैठी है। वायरल वीडियो में इंस्पेक्टर भीष्म पाल यादव बायीं तरफ बैठी महिला को अश्लील इशारे करते हुए देखा जा सकता है।

युवती ने कही ये बात

पीड़ित युवती की तहरीर पर भटनी थाने में भीष्मपाल सिंह यादव के खिलाफ धारा 354(क)/509/166 आईपीसी के तहत केस दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी गई है। युवती की तहरीर के मुताबिक, वह 22 जून को दोपहर में अपनी मां के साथ भूमि विवाद के एक मामले में थाने गई थी। उस वक्त प्रभारी निरीक्षक भटनी भीष्मपाल सिंह यादव अपने कार्यालय में बैठे थे। वह और उसकी मां भूमि विवाद के बारे में प्रभारी निरीक्षक को बता रही थीं। जिसके बाद भीष्मपाल सिंह यादव के द्वारा बैठने के लिए कहने पर दोनों वहां रखी कुर्सी पर बैठ गईं। युवती का आरोप है कि भूमि विवाद के संबंध में बात करते-करते प्रभारी निरीक्षक अश्लील हरकत करने लगे, इस दौरान युवती ने इसका वीडियो बना लिया और अपने परिवार के अन्य सदस्यों को दिखाया। जिसके बाद पड़ोस के रहने वाले एक व्यक्ति ने वीडियो को फारवर्ड कर दिया और वह सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

कटे पंजे को दोबारा कलाई से जोड़ा

7 घंटे लंबे ऑपरेशन के बाद डॉक्टरों ने कटे पंजे को दुबारा कलाई से जोड़ा

नोएडा। गौतम बुद्ध नगर के सेक्टर 128 स्थित जेपी अस्पताल के डॉक्टरों को बड़ी सफलता हाथ लगी। यहां डॉक्टरों (Doctor) ने सात घंटे लंबे चले ऑपरेशन के बाद एक युवक के कटे पंजे को उसकी कलाई से जोड़ने में सफलता प्राप्त की। जेपी अस्पताल के डॉ आशीष राय ने बताया कि पूरा ऑपरेशन सात घंटे तक चला। जिसके बाद पंजे को कलाई से जोड़ने में सफलता मिली। उन्होंने बताया कि ऑपरेशन काफी जटिल था। अगर मरीज को पहुंचने में थोड़ी सी भी देर होती तो पंजे को कलाई से जोड़ना मुश्किल होता। लेकिन डॉक्टरों की टीम ने इसे सफलतापूर्वक पूरा किया।

मकान के विवाद में काटा गया था पंजा

बता दें कि दो दिन पूर्व दो पक्षों में मकान को लेकर विवाद हुआ था। इस विवाद में एक व्यक्ति पर धारदार हथियार से वार कर उसके पंजे को काट दिया गया था। आनन-फानन में परिजनों एन व्यक्ति को जेपी स्थित अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉ आशीष राय की टीम ने ऑपरेशन कर फिर से पंजे को जोड़ दिया। डॉ राय ने बताया कि मरीज पूरी तरह से स्वस्थ है। उन्होंने बताया कि कटे हुए अंग को 6 घंटे के भीतर लगाना होता है। इसमें देर होने पर मशल्स के नष्ट होने का खतरा रहता है। नसों की पहचान पहचान करके अलग-अलग करना बहुत बड़ी चुनौती थी। कटे हुए पंजे की सभी आर्टरी, नसें, और टेंडन एक-एक करके स्टंप से जोड़ा गया ताकि वह अपने स्थान पर जुड़ जाएं।

चार आरोपी गिरफ्तार

पुलिस ने इस मामले चार आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। साथ ही आरोपियों के पास बंदूक और हमले में प्रयुक्त व फरसा भी बरामद कर लिया।

थानाध्यक्ष के खिलाफ सड़क पर उतरेंगे

बखरी/बेगूसराय। दलालों के चंगुल में फंसेबखरी थानाध्यक्ष मुकेश पासवान के खिलाफ बखरी के विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं, सामाजिक कार्यकर्ता और जनप्रतिनिधियों ने सर्वदलीय बैठक में जमकर भड़ास निकाली। बड़ी संख्या में उपस्थित नेताओं, जनप्रतिनिधियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने प्रस्ताव पारित कर बखरी थानाध्यक्ष को सस्पेंड कर विभागीय कार्रवाई की मांग वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से की है। सस्पेंड नहीं किए जाने की स्थिति में जन आंदोलन चलाने का भी फैसला लिया गया है। हालांकि नवगठित सात सदस्यीय सर्वदलीय कमेटी पहले पूरे प्रकरण से डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को अवगत कराएंगे।


बैठक की अध्यक्षता करते हुए पूर्व विधायक रामविनोद पासवान ने कहा कि पुलिस का काम आम आवाम की सुरक्षा, पीड़ित व्यक्ति को इंसाफ और सहायता करना है। मगर बहुत दुख की बात है कि दलालों के चंगुल में फंसे बखरी थानाध्यक्ष मुकेश पासवान की कार्यशैली जनविरोधी, गरीब विरोधी और महिला विरोधी हो चली है।


बिहार कैबिनेट मीटिंग, 5 एजेंडो पर मुहर

पटना। सीएम नीतीश ने आज कैबिनेट की बैठक बुलाई थी। अमूमन  बिहार कैबिनेट की बैठक शाम में आयोजित की जाती थी। लेकिन इस बार सुबह में ही कैबिनेट बैठक बुलाई गई थी। सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में आज 11:30 बजे से संवाद में कैबिनेट की बैठक आयोजित की गई। बिहार कैबिनेट की बैठक में वैसे तो कुल 8 एजेंडों पर मुहर लगी है। लेकिन इनमें से 3 अध्यादेश है। लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग में 641 पदों के सृजन की स्वीकृति दी गई है। साथ ही 3 अस्थायी पदों के सृजन की स्वीकृति मिली है।





एनसीसी, अंशकालीन पदाधिकारियों कैडेटों को सेलिंग, साइकिलिंग, इक्सपेडिशन सहित अन्य प्रशिक्षण शिविर आयोजन के दौरान भोजन भत्ता के दरों में वृद्धि की स्वीकृति दी गई है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पोठिया किशनगंज के चिकित्सा पदाधिकारी डॉ विनय कुमार लाल को 11 फरवरी 2020 से लगातार अनुपस्थित रहने के आरोप में सेवा से बर्खास्त किया गया है। जगजीवन राम संसदीय अध्ययन एवं राजनीतिक शोध संस्थान संशोधन नियमावली 2020 के प्रारूप पर स्वीकृति प्रदान की गई है।







शिक्षा विभाग की एक महत्वपूर्ण एजेंडों पर मुहर लगी है।जिसके तहत पंचायती राज संस्थानों एवं नगर निकाय संस्थानों अंतर्गत नियुक्त शिक्षकों एवं पुस्तकालय अध्यक्ष सेवा शर्त में सुधार हेतु विभागीय संकल्प संख्या 1519 के तहत गठित समिति के पुनर्गठन के प्रस्ताव पर सहमति दी गई है। बता दें कि सरकार ने इसके पहले 11 अगस्त 2015 को सेवाशर्त को लेकर समिति का गठन किया गया था। एक बार फिर से  उस समिति का पुर्नगठन किया गया है।




पत्रकार की हत्यारी लेडी डॉन अरेस्ट

पत्रकार शुभम की हत्या से जुड़ा है यह मामला

खनन माफिया के खिलाफ लिखने पर हुई हत्या

उन्नाव। चर्चित पत्रकार हत्याकांड में वॉन्टेड लेडी डॉन दिव्या अवस्थी को पुलिस ने आखिरकार गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही पुलिस ने दिव्या के पति कन्हैया अवस्थी को भी गिरफ्तार किया है। इसके अलावा आरोपी लेडी डॉन के तीन शूटर और एक अन्य सहयोगी भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया। उन्नाव में बीती 19 जून को स्थानीय पत्रकार शुभम त्रिपाठी की हत्या कर दी गई थी। जिसके पीछे खनन माफियाओं का हाथ बताया जा रहा था। शुभम ने खनन माफियाओं के खिलाफ कई खबरें अपने समाचार पत्र में प्रकाशित की थीं। इस हत्याकांड पर जिले के सभी पत्रकारों ने रोष जाहिर किया था। साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए आवाज उठाई थी। हत्या के अनावरण के लिए आईजी और एडीजी भी लगातार जिला पुलिस पर दबाव बना रहे थे। हत्या आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने 5 टीम बनाई थीं। जिसमें एसओजी भी शामिल थी। इसी दौरान सोमवार को एसओजी ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और इस मामले का खुलासा कर दिया।

विनोद कुमार पांडेय के मुताबिक पुलिस ने लेडी डॉन दिव्या अवस्थी और उसके पति कन्हैया अवस्थी के साथ-साथ तीन शूटर भी गिरफ्तार किए। जो शुभम की हत्या में शामिल थे। बता दें कि इस मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने भी स्वत: संज्ञान लिया था। मानवाधिकार आयोग ने यूपी सरकार के मुख्य सचिव और डीजीपी को नोटिस जारी किया था। आयोग ने इस मामले में विस्तृत रिपोर्ट भी मांगी है।

दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...