शुक्रवार, 24 अप्रैल 2020

'स्वामित्व योजना' का शुभारंभ किया

नई दिल्ली। आज राष्ट्रीय पंचायतराज दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे देश की ग्राम पंचायतों के साथ वीडियो कांन्फ्रेंस के जरिए बातचीत की। केंद्र सरकार की ओर से कहा गया है कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम में ग्राम पंचायतों ने अहम भूमिका निभाई है। जिसमें गरीबों और प्रवासी मजदूरों तक अनाज की आपूर्ति में अहम भूमिका रही है. आज इस मौके पर पीएम  मोदी एकीकृत ई-ग्राम स्वराज पोर्टल भी लांच  किया है। इसके साथ ही पीएम मोदी ने स्वामित्व योजना की भी शुरुआत की है। ग्राम पंचायतों से बातचीत की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने सभी लोगों को पंचायतीराज दिवस पर शुभकामनाएं दीं। उन्होंने देश भर के पंच और सरपंच आज सम्मानित हुए सरपंचों के बारे में जानकारी वेबसाइट लें। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना की बीमारी ने बहुत कुछ बदल दिया है। पहले हम आमने-सामने रूबरू होते थे लेकिन आज लाखों पंचों और पंचायतों से वीडियो कांन्फ्रेंसिंग के जरिए बात कर रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना संकट में पंचायतों की प्रासंगिकता बढ़ गई है. कोरोना ने नई-नई मुसीबतें पैदा की हैं। लेकिन इस महामारी ने हमें नई शिक्षा और संदेश दिया है। पीएम मोदी ने कहा कि आज मैं सभी नागरिकों से कहना चाहता हूं कि कोरोना संकट ने सबसे बड़ा संदेश दिया है कि हमें अब आत्मनिर्भर बनना ही पड़ेगा। जिला, पंचायतों को आत्मनिर्भर बनना पड़ेगा। इससे हमें बाहर की ओर नहीं देखना पड़ेगा।


पीएम मोदी ने कहा, ‘कोरोना संकट ने सिखाया है, आत्मनिर्भर बनो, आत्मनिर्भर बनो, आत्मनिर्भर बनो’। पंचायतें मजबूत होंगी तो आखिरी शख्स तक मदद पहुंचेगी। पीएम मोदी ने कहा कि पंचायतों को मजबूत करने के लिए काफी कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि आज डेढ़ लाख ब्राडबैंड कनेक्शन पहुंच गया है। आज जो वीडियो कांन्फ्रेंस हो रही है। इसमें इन सारी बातों को बड़ा योगदान है। मोबाइल की यूनिटें लगाई गई हैं उससे सस्ते स्मार्टफोन गांवों तक पहुंचे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि आज दो बड़ी योजनाएं शुरू की गई हैं। ई ग्राम स्वराज्य पोर्टल और ऐप और स्वामित्व योजना.. इस पोर्टल से ग्राम पंचायतों का लेखाजोखा होगा….उन्होंने कहा कि इस पोर्टल और ऐप से पंचायत के विकास कार्यों का फंड की जानकारी रहेगी. इसमें विकास कामों की पूरी जानकारी गांवों को लोगों को पता होगी. इससे पारदर्शिता भी बढ़ेगी और काम तेजी से होगा….पीएम मोदी ने कहा कि ई ग्राम स्वराज्य से बड़ी शक्ति मिलने जा रही है।


इसे भी पढ़े   कोरोना वायरस के संक्रमण व उसके बचाव की तैयारियों की कलेक्टर ने दी जानकारी
पीएम मोदी ने कहा कि स्वामित्व योजना में ड्रोन के माध्यम से पूरे गांव की संपत्ति का लेखाजोखा दिया जाएगा और स्वामित्व का प्रमाणपत्र दिया जाएगा…इससे स्वामित्व को लेकर गांवों में जो झगड़े होते हैं वह खत्म हो जाएंगे और स्वामित्व होने से संपत्ति के आधार पर बैंक से लोन लिया जा सकेगा….पीएम मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश,  उत्तराखंड कर्नाटक सहित 6 राज्योंं में इसे शुरू किया जा रहा है…..इसके बाद इसमें सुधार करके पूरे देश में लागू कर दिया जाएगा… पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना संकट में गांवों से जो जानकारी मिल रही है। वह बड़ी बात हुई है..,.आपने दम पर इस बीमारी से निपटने के लिए पूरी दुनिया को बहुत सरल शब्दों में समझा दिया….’दो गज दूरी’ का…..प्रधानमंत्री मोदी ने इससे बाद पंचायतों के मेंबर से बातचीत शुरू की जिसमें जम्मू-कश्मीर के पंचायत मेंबर से शुरुआत हुई।


724 लोगों की मौत, 23,447 संक्रमित

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। कोरोना वायरस कोविड-19 को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय एवं कल्याण मंत्रालय के सचिव एवं संयुक्त सचिव के द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए बताया। लव अग्रवाल ने कहा- पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 1684 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं, देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल पॉजिटिव मामले 23,447 हैं, कल से अब तक 491 लोग ठीक हो चुके हैं और देश में कुल 4748 लोग कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके हैं। देश में अबतक कोरोना संक्रमण की वजह से 724 लोगों की मौत हो चुकी है।


पूर्व में गठित 6 अंतर-मंत्रालय केंद्रीय टीमों (IMCT) के अलावा, गृह मंत्रालय ने आज चार अतिरिक्त IMCTs का गठन किया, इनमें से प्रत्येक का नेतृत्व अतिरिक्त सचिव स्तर के अधिकारी करेंगे। इन टीमों का गठन अहमदाबाद, सूरत, हैदराबाद और चेन्नै के लिए किया गया है। (पुण्य सलिला श्रीवास्तव, केंद्रीय गृह मंत्रालय)


बीते 28 दिनों में 15 जिलों में कोई नया केस सामने नहीं आया है। अब तक देश में 80 ऐसे जिले हैं जिनमें बीते 14 दिनों में कोई नया केस सामने नहीं आया है। बीते 24 घंटे में 1684 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं। कोरोना के मामले में हमारा रिकवरी रेट 20.57 प्रतिशत रहा।


आज हमारा डबलिंग टाइम 9 दिन तक पहुंच गया है, ये दिखाता है कि जो महामारी तेज गति से फैल रही थी उस पर हम किस हद तक अपने प्रयासों से रोक लगा पाए है। (डॉ.सुजीत सिंह, डायरेक्टर, नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल)


गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन अधिनियम के अंतर्गत 6 इंटर-मिनिस्ट्रियल सेंट्रल टीमों (IMCT) का गठन किया था,COVID19 की स्थिति को देखते हुए गृह मंत्रालय ने 4और IMCT का गठन किया है जो अहमदाबाद, सूरत, हैदराबाद और चेन्नई भेजी जा रहीं हैं। जो क्षेत्र कंटेंनमेंट या हॉट स्पॉट नहीं है वहां 20अप्रैल से कुछ गतिविधियों की अनुमति दी गई है।लेकिन गलत व्याख्या की वजह से आशंका थी कि फैक्ट्री में कोविड केस मिलने पर फैक्ट्री के CEOको सज़ा हो सकती है या फैक्ट्री 3महीने के लिए सील हो सकती है।


ई-कॉमर्स पोर्टल शुरू करने का निर्णय

नई दिल्ली। कोरोना महामारी को देखते हुए केंद्र सरकार ने लोगों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर भारतीय ई. कॉमर्स पोर्टल जारी करने का फैसला किया है जिसमें महानगरों के अलावा द्वितीय और तृतीय श्रेणी के शहरों के खुदरा कारोबारियों एवं विनिमार्ताओं को भी जोडा जाएगा। वाणिज्य विभाग के सूत्रों के अनुसार जनता को आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति करने की चुनौती से निपटने के लिए उद्योग और आंतरिक व्यापार की आपूर्ति श्रृंखला में काम करने वाली विभिन्न कंपनियों और स्टार्टअप के प्रयासों को समन्वित करते हुए एक राष्ट्रीय ई . कॉमर्स पोर्टल शुरू करने का निर्णय लिया गया है। इसमें स्थानीय किराना स्टोर आॅनलाइन आॅर्डर लेकर आवश्यक वस्तुयें ग्राहकों को घर बैठे ही उपलब्ध कराएँगे और देश की आपूर्ति श्रंखला को और मजबूत बनाएंगे। इसमें विनिमार्ता, वितरक, थोक विक्रेता, खुदरा विक्रेता और उपभोक्ताओं की विस्तृत श्रंखला शामिल होगी। वर्तमान संकट के समय विशेष रूप से द्वितीय और तृतीय श्रेणी के शहरों में आबादी अपनी दैनिक आपूर्ति के लिए इन किराना स्टोरों पर अत्यधिक निर्भर है। ये आपूर्ति के इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर अनेक चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। इस स्थिति से उबरने के लिए राष्ट्रीय ई-कॉमर्स पोर्टल सहायक होगा। सूत्रों ने बताया कि स्टार्ट अप इंडिया ने अपने पोर्टल पर उपयुक्त प्रौद्योगिकी वाले स्टार्ट अप्स और इच्छुक उद्यमियों से आवेदन आमंत्रित किए हैं।


जारीः शेयर बाजार में गिरावट दर्ज

नई दिल्ली। हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन शेयर बाजार गिरावट के साथ ही बंद हुआ है और सेंसेक्स व निफ्टी दोनों 1.5 फीसदी से ज्यादा की गिरावट के साथ बंद हुए हैं। म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री से आई बुरी खबर ने फाइनेंस सेक्टर पर बुरा असर डाला जिसके असर से बाजार लुढ़के. वहीं बैंक निफ्टी की गिरावट ने भी बाजार को नीचे खींचा।


कैसे बंद हुआ बाजारः सेंसेक्स और निफ्टी 1.65 फीसदी से ज्यादा बड़ी गिरावट के साथ बंद हुए हैं. बीएसई का 30 शेयरों वाला इंडेक्स सेंसेक्स 536 अंक यानी 1.68 फीसदी की गिरावट के साथ 31,327.22 पर बंद हुआ और एनएसई का 50 शेयरों वाला इंडेक्स निफ्टी 159.50 अंक यानी 1.71 फीसदी की गिरावट के साथ 9154.40 पर जाकर बंद हुआ है।


फार्मा को छोड़ निफ्टी के सभी सेक्टोरियल इंडेक्स गिरे


आज फार्मा सेक्टर को छोड़कर निफ्टी के सभी सेक्टोरियल इंडेक्स में गिरावट के लाल निशान में कारोबार बंद हुआ है. निफ्टी फाइनेंशियल सर्विसेज 3.84 फीसदी टूटकर बंद हुआ और पीएसयू बैंक इंडेक्स 3.70 फीसदी नीचे बंद हुआ है. निफ्टी प्राइवेट बैंक सेक्टर 3.42 फीसदी की कमजोरी के साथ बंद हुआ है।


आज के कारोबार की बड़ी बातें


आज सेंसेक्स के 30 में से 22 शेयरों में गिरावट के साथ कारोबार बंद हुआ।


निफ्टी के 50 में से 39 शेयरों में गिरावट के साथ कारोबार बंद हुआ है।


बैंक निफ्टी के 12 में से 11 शेयरों में गिरावट पर कारोबार बंद हुआ है।


फार्मा और फर्टिलाइजर शेयरों की खरीदारी से बाजार को सहारा मिला है।


एनबीएफसी और बैंकिंग शेयरों की बड़ी गिरावट ने बाजार को नीचे खींचा है।


नेपाल को 23 टन दवाई की आपूर्ति

नई दिल्ली/ काठमांडू। भारत ने कोरोना महामारी के बीच नेपाल को 23 टन ज़रूरी दवाइयां भेजी हैं। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने इस मदद के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शुक्रिया कहा है।


जवाब में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत-नेपाल के बीच ख़ास रिश्ता है और भारत कोविड-19 की लड़ाई में नेपाल के साथ खड़ा है। भारत ने जो दवाइयां भेजी उनमें 3.2 लाख पैरासिटामोल और 2.5 लाख हाइड्रोक्लोरोक्वीन की डोज शामिल है। कोरोना वायरस नेपाल में भी पहुंच चुका है। नेपाली स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से गुरुवार रात जारी आँकड़ों के मुताबिक़ नेपाल में 48 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। नेपाल के लिए राहत की बात ये है कि वहां अभी तक कोरोना वायरस से किसी की मौत नहीं हुई है और 10 लोग इलाज के बाद ठीक होकर अपने घर लौट चुके हैं।


716 क्विंटल गेहूं 24 अप्रैल तक खरीदें

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर


716 क्विंटल 15 अप्रैल से 24 अप्रैल तक खरीदा गया


हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ में सरकारी क्रय केंद्रों पर गेहूं की खरीद के लिए आवश्यक साइबर कैफे को सरकार द्वारा खोलने के आदेश पारित करने के बाद हमारी टीम द्वारा खरीद को लेकर मौका मुआयना किया गया।
आपको बता दें कि प्रदेश सरकार द्वारा किसानों की गेहूं की फसल को 1925 रु प्रति कुंटल में खरीद के लिए जगह-जगह क्रय केंद्र खोले गए हैं परंतु इस दौरान कोरोनावायरस संक्रमण के चलते देश व प्रदेश में लगे लॉक डाउन में साइबर कैफे बंद होने के चलते किसान अपने गेहूं की फसल को क्रय केंद्र तक लेकर नहीं जा रहे थे सरकार ने इसी परेशानी को ध्यान में रख किसानों के हित में लोग डाउन के दौरान साइबर कैफे को लोग डाउन से बाहर कर दिया जिसके बाद आज गेहूं क्रय केंद्रों पर कुछ गेहूं की आवक दिखाई पड़ी।
 जब मंडी परिसर में बने गेहूं क्रय केंद्र पर उपस्थित कर्मी से बात की तो उसने बताया कि साइबर कैफे बंद होने के चलते गेहूं क्रय केंद्रों तक बहुत कमी के साथ आ रहा था परंतु अब कुछ मात्रा बढ़ गई है आज एक किसान द्वारा उनके केंद्र पर 37 क्विंटल गेहूं तोला गया है और इस क्रय केंद्र पर 15 अप्रैल से शुरू होने के चलते 24 अप्रैल तक कुल 716 क्विंटल गेहूं की खरीद हो चुकी है और यह अब खरीद कैस खुलने के कारण अब बढ़ने लगी है।


नगर पालिका में रोज सफाई-छिड़काव

कोरोना वायरस से बचाव के लिए कराया गया सैनिटाइजेशन


नगर पालिका परिषद द्वारा प्रतिदिन की जा रही सफाई और कराया जा रहा दवा का छिड़काव


फतेहपुर। कोरोना वायरस से बचाव के लिए नगर पालिका परिषद द्वारा प्रतिदिन सैनिटाइजेशन का काम चालू है, नालियों और गलियों की सफाई की जाती है और दवा का छिड़काव लगातार कराया जा रहा है। नगर के विभिन्न स्थानों पर इसी के चलते कर्मचारियों ने सैनिटाइज किया। शुक्रवार को भी नगर पालिका परिषद द्वारा कोरोना वायरस से बचाव के लिए नगर के ललौली चौराहा ललौली रोड वार्ड नंबर 14 एवं वार्ड नंबर 17 में व्यापक रूप से दवा का छिड़काव करके सैनिटाइजेशन का काम किया गया रोड घर दुकान के बाहर सैनिटाइज किया गया इस संबंध में नगर पालिका परिषद के सफाई स्पेक्टर राजेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए लगातार सैनिटाइजेशन का काम किया जा रहा है। इसी क्रम में ललौली चौराहा ललौली रोड में व्यापक रूप से सैनिटाइज किया गया घरों के बाहर दुकानों के बाहर तथा रोड में दवा का छिड़काव हुआ इसके पहले नगर के विभिन्न वार्ड और मार्गों में भी सैनिटाइजेशन का काम किया जा चुका है यह कार लगातार चलता रहेगा।


बांग्लादेशः 127 मौतें, संक्रमित 4,186

ढाका। बांग्लादेश में सैकड़ों की संख्या में डॉक्टर कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह पीपीई किट की कमी को बताया जा रहा है। अगर बांग्लादेश में जल्द ही सुरक्षा उपकरणों की सप्लाई नहीं हुई तो हालात और बिगड़ सकते हैं। बांग्लादेश में अभी तक 4,186 कोरोना पॉजिटिव केस आए हैं, जिसमें से 127 लोगों की मौत हुई है।


बांग्लादेश डॉक्टर फेडरेशन (बीडीएफ) के मुताबिक 251 डॉक्टर गुरुवार तक कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। जिनमें से 200 डॉक्टर राजधानी ढाका से ही हैं। डॉक्टरों के एक समूह ने इसकी वजह पीपीई किट की कमी को बताया है। बांग्लादेश के बीआरएसी विश्वविद्यालय के एक हालिया अध्ययन में पाया गया कि लगभग 25 प्रतिशत डॉक्टर और 60 प्रतिशत मेडिकल स्टाफ कोरोना से चल रही इस जंग में शामिल हैं, लेकिन उन्हें अभी तक पीपीई नहीं मिला है। वहीं जो पीपीई किट मिली भी है उसकी क्वालिटी बहुत ही खराब है। ऐसे में डॉक्टर और मेडिकल स्टॉफ पर हमेशा संक्रमण का खतरा बना रहता है। बीडीएफ ने चिंता जताते हुए कहा कि बांग्लादेश की स्वास्थ्य सुविधाएं पहले से ही ज्यादा अच्छी नहीं हैं, ऐसे में अगर हम डॉक्टरों और मेडिकल स्टॉफ को क्वारंटाइन कर देंगे तो मरीजों को इलाज कैसे होगा।


प्रशासन अलर्ट, यात्रीयो का आवागमन

अतुल त्यागी मेरठ मंडल प्रभारी


हापुड़। हापुड़ में लोक डाउन के चलते पुलिस प्रशासन अलर्ट जहां टू व्हीलर का आवागमन किसी ना किसी कार्य को लेकर होता रहता है। किसी को दवाई लेने जाना है। किसी को बैंक जाना है। ज्यादातर लोग इन दो बातों का ही पुलिस के आगे बखान करते हैं। इसको लेकर पुलिस ने ऐसे लोगों को हिदायत  दी के बहुत ही जरूरी कुछ आवश्यक काम है तो वह अपने घर से निकले अन्यथा अपने घर पर रहे और टू व्हीलर वाहन पर एक ही व्यक्ति बैठा होना चाहिए और जो लोग बेवजहा सड़कों पर दिखाई देते हैं। उन लोगों के चालान भी काटे गए।


लोक डाउनः सफाई कर्मचारीयो का सम्मान

अतुल त्यागी मेरठ मंडल प्रभारी, मुकेश सैनी जिला प्रभारी      


ग्राम सिंमरौली में सफाई कर्मचारी को किया गया सम्मानित 


हापुड़। जनपद हापुड़ के ग्राम सिंमरौली में कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रहे कोरोना  फाइटरो में आज सफाई कर्मचारी मुकेश कुमार  का ग्राम वासियों द्वारा माला पहनाकर व पुष्प वर्षा कर सम्मान किया। इस अवसर पर ग्राम वासियों ने कहा कि यह सफाई कर्मचारी इस विषम परिस्थिति में अपने कार्य को अंजाम दे रहे हैं यह सच्चे सिपाही कोरोना से लड़ रहे हैं इन लोगों के कारण ही आज हमारा क्षेत्र साफ और स्वच्छ है इन लोगों का सम्मान कर कर हम सब को अत्यंत खुशी हुई इस अवसर पर संजय कुमार नकशे बाले,राकेश, नंदकिशोर,राम फल प्रजापति, चमन कली, सपना, प्रियंका, गीता, रतन कोर आदि उपस्थित रहे।


हापुड़ः दो तस्कर गिरफ्तार, एक फरार

अतुल त्यागी मेरठ मंडल प्रभारी, राजेन्द्र सिंह रिपोर्टर 


शराब तस्करों को लॉक डाउन का नहीं खौफ दो तस्करों को कार सहित किया गिरफ्तार एक फरार


गढ़मुक्तेश्वर/ हापुड़। लॉक डाउन में शराब तस्करों की हो रही बल्ले बल्ले के साथ ब्लैक मेलिंग पर सिंभावली पुलिस ने शिकंजा कसते हुए दो लोगों को स्विफ्ट डिजायर कार संख्या मे भरी अंग्रेजी शराब की 8 बेटियों के साथ किया गिरफ्तार एक हुआ फरार।


विदित रहे कि बीति रात्रि मुखबिर की सूचना पर गश्त के दौरान थानाघ्यक्ष महेंद्र कुमार त्रिपाठी ने अपनी तेज तरार टीम के एस आई ब्रह्ममपाल सिंह कांस्टेबल प्रशान्त कुमार चालक संतोष कुमार के द्वारा नवादा नहर पटरी पर कार में शराब लेकर जा रहें शराब तस्करों को धेराबन्दी करते हुए अंग्रेजी शराब की 8पेटियो के साथ प्रदीप कुमार निवासी मारकपुर थाना भावनपुर रिंकू शर्मा उर्फ अमरदीप नंगला भट्टू प्रगति बिहार सिविल लाइंस मेरठ को गिरफतार करने का दावा किया है। वही इनके फरार साथी का नाम अमित सैनी बताया गया है जिसके लिए ये दोनों युवक शराब की तस्करी कर रहे हैं। थाना प्रभारी महेंद्र कुमार त्रिपाठी का कहना है कि आरोपी युवकों के विरुद्ध कोविड- 19की धारा 188/ 269 एवं आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत कर अग्रिम कार्यवाही की जा रही है।


ऑस्ट्रेलियाः 24 घंटे में वायरस के 4 केस

सिडनी। कोरोना वायरस के संक्रमण को ऑस्ट्रेलिया ने लगभग काबू में कर लिया है। यहां बीते 24 घंटे में केवल चार मामले सामने आए हैं। जबकि मार्च के आखिर तक यहां रोजाना 450-460 संक्रमित मामले सामने आ रहे थे। देशभर में टेस्टिंग के बाद बीते 24 घंटे में 12 हजार और टेस्ट किए गए। यहां कोरोना की गंभीरता का पता चलता है।


यहां पर महामारी से लड़ने के लिए ड्रोन का उपयोग किया जा रहा है। एयरपोर्ट, स्टेशन, क्रूज शिप और ऑफिस में छींकने-खांसने वाले लोगों की पहचान की जा रही है। पता चलते ही उन्हें क्वारंटाइन किया जा रहा है। वायरस के खिलाफ लड़ रहे स्वास्थ्य और सुरक्षाकर्मियों को छह हफ्ते में दस कोरोड़ मास्क और सुरक्षा किट दी गईं। वहीं विदेश से आने वाले लोगों को दो हफ्ते का क्वारंटीन अनिवार्य कर दिया गया है। संक्रमण फैलने के बाद यहां पर लोगों के तापमान और हृदय गति पर खास नजर रखनी शुरू की गई।यहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन किया गया। यहां पर लॉकडाउन के पहले दिन 23 मार्च को पार्क में बैठे एक व्यक्ति को खाना खाने पर 50 हजार रुपये का जुर्माना देना पड़ा। वहीं बीते हफ्ते विक्टोरिया के महापौर टोनी हर्बर्ट पर 78 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया। वह सामाजिक दूरी को भूलकर सड़क किनारे बीयर पी रहे थे।


अमेरिकाः 24 घंटे में 3176 की मौत

वाशिंगटन। अमेरिका में कोरोना वायरस ने करीब 50 हजार लोगों की जान ले लही है। वहीं, एक दिन में कोरोना से 3176 लोगों की मौत से गुरुवार का दिन अमेरिका के लिए सबसे घातक बन गया। जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में अमेरिका में कोरोना वायरस ने 3176 लोगों की जिंदगियां छीन ली हैं। 


बाल्टीमोर स्थित जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के लेटेस्ट आंकड़ों के मुताबिक, अमेरिका में कोरोना वायरस से अब तक करीब 49,759 लोगों की मौत हो गई है। वहीं, 866,646 के कन्फर्म केस आ चुके हैं। गुरुवार को कोरोना वायरस के 26,971 मामलों की पुष्टि हुई। बता दें कि अमेरिका में मौत का आंकड़ा काफी तेजी से बढ़ रहा है।


कोरोना के चलते क्रिकेट टूर्नामेंटस रद्द

लंदन। कोरोना वायरस के कारण अभी तक कई क्रिकेट टूर्नामेंट रद्द किए जा चुके हैं। इस वायरस के बढ़ते असर को देखते हुए ही इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने इंग्लैंड में सभी तरह की क्रिकेट गतिविधियों को पहले 28 मई तक के लिए स्थगित कर दिया था। वहीं अब बोर्ड ने फैसला लेते हुए इसे 1 जुलाई तक के लिए बढ़ा दिया है। इस कारण से भारतीय महिला टीम का इंग्लैंड दौरा भी स्थगित हो गया है।


इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने शुक्रवार को कहा कि जुलाई-सितंबर के बीच होने वाले अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों को आगे पुनर्निर्धारित करने का प्रयास किया जाएगा और इसमें वेस्टइंडीज का इंग्लैंड दौरा भी शामिल है। इतना ही नहीं भारतीय महिला टीम के खिलाफ होने वाली दो वनडे और चार टी20 मैचों की सीरीज को भी आगे बढ़ाने का फैसला लिया गया है। साथ ही 20-20 ब्लास्ट टूर्नामेंट को भी जितना ज्यादा हो सके उतना आगे बढ़ा दिया गया है। वहीं जून में होने वाले सभी मैचों को भी आगे के लिए बढ़ा दिया गया है।


फ्रांसः लक्षण कम, फिर भी संक्रमण

फ्रांस के रिसर्चर्स ने ट्रायल की मांगी अनुमति
फ्रांस में कोरोना से 21 हजार से ज्यादा की मौत


पेरिस। फ्रांस में हुई एक ताजा रिसर्च के मुताबिक, निकोटीन  लोगों को कोरोनोवायरस से बचा सकता है. पेरिस के एक शीर्ष अस्पताल के शोधकर्ताओं ने 343 कोरोनोवायरस रोगियों की जांच की, जिसमें से 139 लोगों में बीमारी के हल्के लक्षण देखने को मिले थे। रिसर्च टीम में शामिल जाहिर अमौरा ने बताया कि इनमें से सिर्फ पांच फीसदी लोग धूम्रपान करते थे। पिछले महीने इंग्लैंड के एक जर्नल में छपी रिसर्च के अनुसार, चीन में कोरोना की चपेट में आए 1000 लोगों में 12.6 फीसदी लोग धूम्रपान करते थे। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, चीन के मरीजों की अनुमानित जनसंख्या के मुकाबले धूम्रपान करने वालों की संख्या कम है। रिसर्च के अनुसार, निकोटीन वायरस को कोशिकाओं में पहुंचने से रोक सकता है, इसलिए वह इसे शरीर में फैलने से रोकता है। रिसर्चर्स को अब फ्रांस के स्वास्थ्य विभाग से इसके क्लिनिकल ट्रायल के लिए अनुमति मिलने का इंतजार है। वह लोग पेरिस के पिटी सलपेट्रिअर अस्पताल के स्वास्थ्यकर्मियों पर निकोटीन पैच का इस्तेमाल करने की योजना बना रहे हैं, जहां से इस रिसर्च की शुरूआत हुई थी। वह देखना चाहते हैं कि क्या यह पैच स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना के संपर्क में आने से बचा रहे हैं। उन्होंने अस्पताल में भर्ती मरीजों के शरीर पर भी इन पैच का इस्तेमाल करने की मांग की है ताकि वह इसके नतीजों को बारीकी से जान सकें। रिसर्चर्स ने साफ किया है कि उनकी रिसर्च का मकसद लोगों को धूम्रपान करने के लिए प्रोत्साहित करना हरगिज नहीं है। सिगरेट में पाया जाने वाला निकोटीन कोरोनावायरस से लड़ सकता है लेकिन निकोटीन शरीर को भी नुकसान पहुंचाता है।


कोटा में फंसे छात्र हुए असम रवाना

जयपुर/गुवाहाटी। उर्सला पेशे से एक साइंटिस्ट हैं और स्विट्जरलैंड में रहती हैं। ऐसे में उन्हें रिसर्च के काम से अपने देश वापिस लौटना था। इसके लिए उनकी ओर से सरकार से संपर्क साधा गया। इस पर निदेशक नागरिक उड्‌डयन डीजीसीए ने इसके लिए इजाजत दी। इजाजत मिलने पर वियना से स्पेशल चार्टर विमान अरेंज किया गया जो उर्सला लेकर रवाना हो गया। उधर गुवाहाटी से एक चार्टर विमान भी जयपुर पहुंचा। इसमें असम पुलिस के 10 अधिकारी और जवान विमान से आए हैं। ये लोग यहां से सड़क मार्ग से कोटा रवाना हो गए। ये लोग कोटा में फंसे असम के कोचिंग छात्रों को लेकर सड़क मार्ग से असम रवाना होंगे।


चीन पर आरोप, किंम जोंग ने बोला झूठ

बीजिंग/ प्योंगयांग। चीन पर आरोप लग रहे हैं कि उसने कोरोना वायरस के फैलने की जानकारी पूरी दुनिया से छिपाई है, वहीं उसके पड़ोसी देश कोरिया ने अपने यहां एक भी केस नहीं होने का दावा कर रखा है। इस बीच अधिकारियों का कहना है कि दरअसल, कोरिया दुनिया के सामने चीन की पोल खुलने से बचाने के लिए ऐसा कह रहा है।


उत्तर कोरिया की सरकार में सीनियर अधिकारी रह चुके किम म्योन्ग के मुताबिक कोरिया का दावा बोगस है कि देश में एक भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं है। यहां तक कि उन्होंने यह भी कहा कि असल संख्या कल्पना के बाहर है। उनके मुताबिक चीन यह साबित नहीं होने देना चाहता कि वायरस चीन से निकला था। अगर कोरिया अपने यहां कोरोना के आंकड़े जारी कर देता है तो चीन के इस दावे की पोल खुलने की नौबत आ जाएगी।


द. कोरियाः फुटबॉल सत्र 8 मई से शुरू

सियोल। दक्षिण कोरिया में के लीग ने शुक्रवार को ऐलान किया कि फुटबॉल सत्र अब आठ मई से शुरू होगा जिससे खिलाड़ियों, कोचों और प्रशंसकों को कोरोना वायरस महामारी के चलते नये नियम समझने के लिये दो सप्ताह का समय मिल जायेगा। पहले मैच में जियोंबुक मोटर्स का सामना सुवोन ब्लूविंग्स से होगा। यह मैच पहले 29 फरवरी को खेला जाना था लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण लॉकडाउन के चलते खेल बंद हो गए थे। हाल ही में खिलाड़ी अभ्यास पर लौटे हैं। दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के 10700 मामले आये हैं और 240 मौते हो चुकी हैं। इस सप्ताह नये मामले एकल अंक में आये हैं। लीग में खिलाड़ियों के लिये मैदान के भीतर और बाहर सामाजिक दूरी बनाये रखने के कड़े निर्देश होंगे। खिलाड़ी हाथ नहीं मिलायेंगे और साथियों या अधिकारियों से बात भी नहीं करेंगे। इसका सत्र से पूर्व मैच पांच मई को दर्शकों के बिना खेले जाने की उम्मीद है।


विश्‍व संगठन वायरस कम करने में नाकाम

तेहरान/वाशिंगटन। एक तरफ जहां पूरी दुनिया कोविड-19 से जंग लड़ रही है वहीं दूसरी तरफ अमेरिका और ईरान एक बार फिर से अपने तीखी बयानबाजी से पूरी दुनिया का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। ये हाल तब है जब दोनों ही देश अपने यहां पर जारी कोरोना वायरस के प्रकोप को कम कर पाने में अब तक नाकाम रहे हैं। इसके अलावा विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन बार-बार सभी देशों से मिलकर कोविड-19 के खिलाफ काम करने की अपील कर रहा है।


आपको बता दें कि इन दोनों के बीच कई वर्षों से ही तनातनी का दौर जारी है। वर्ष 2015 में तत्‍कालीन अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने यूरोपीय देशों की मौजूदगी में ईरान से परमाणु डील की थी। इसको उस वक्‍त दोनों देशों की शांति प्रक्रिया में मील का पत्‍थर बताया गया था। लेकिन मई 2018 में राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने इस डील को अमेरिका के लिए बेकार बताते हुए खत्‍म कर दिया था। इसके बाद 2019 में ईरान ने भी इस डील से खुद को अलग कर लिया था।


भारत को सप्लाई, ग्रीन चैनल ओपन

नई दिल्ली/ बीजिंग। चीन ने भारत को मेडिकल सप्लाई भेजने के लिए ग्रीन चैनल को ओपन कर दिया है। इसका मतलब अब भारत के कार्गो प्लेन मेडिकल आपूर्ति लेकर आ सकेंगे। इस मेडिकल सप्लाई में पीपीई, वेंटिलेटर और टेस्टिंग किट शामिल हैं। भारत ने इससे पहले भी चीन से पीपीई किट का आयात किया है।
भारत में चीनी राजदूत सन वीडॉन्ग ने शुक्रवार को ट्वीट किया, 'चीन ने महामारी के दौरान इंडियन एयर कार्गो के लिए ग्रीन चैनल को खोल दिया है और मेडिकल सप्लाई से भरे 35 कार्गो प्लेन को मंजूरी दी गई है जो कि जरूरत के वक्त भारत पीपीई, वेंटिलेटर और टेस्टिंग किट लेकर जाएंगे। हम कोविड19 महामारी से लड़ाई में भारत का साथ देना जारी रखेंगे।


कोरोना मरीजों के गुर्दो में खून जमा

न्यूयॉर्क। कोरोना वायरस जुड़ी एक नई खबर ने डॉक्टरों को चिंता में डाल दिया है। यह वायरस अब मरीजों के शरीर के खून को जमा दे रहा है। अमेरिका के न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई हॉस्पिटल में नेफ्रोलॉजिस्टों को पता चला है कि वायरस के कारण कोरोना मरीजों के गुर्दे में भी खून जम रहा है। इसकी वजह से दिल का दौरा पड़ने की घटनाओं में वृद्धि हुई है।


माउंट सिनाई हॉस्पिटल के डॉक्टर जे. मोक्को ने बताया कि यह काफी हैरानी की बात है कि कैसे यह बीमारी खून को जमा रही है। उन्होंने कहा कि कई मामलों में ऐसा हुआ है कि दिल का दौरा कम उम्र के लोगों को पड़ा है। मार्च के तीन हफ्तों में ही डॉक्टर मोक्को ने मस्तिष्क में खून ब्लॉकेज के साथ 32 ऐसे मरीजों को देखा है, जिन्हें दिल का दौरा पड़ा है। हैरानी की बात यह रही कि 32 में से आधे मरीज कोरोना वायरस से पॉजिटिव निकले। उधर, चीन में एक मरीज के ठीक होने के 70 दिन बाद उसे फिर से कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया है। इससे चीन में चिंता बढ़ गई है। कभी कोरोना के केंद्र रहे वुहान में मामला 50 साल के शख्स का है जिसे कोरोना के लक्षण मिलने पर शुरू में क्वारंटीन हब में रखा गया। इसका दो अलग-अलग अस्पतालों में इलाज हुआ। इलाज में रिपोर्ट निगेटिव आई तो उसे अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया।


जनपद में मात्र 4 घंटे खुलेगी मंडियां

विजय भाटी


ग़ाज़ियाबाद। कोरोना वायरस की वजह से पुराना बस अड्डा स्थित सब्जी मंडी को महज 4 घंटे खोलने का निर्णय लिया गया है। कोरोना वायरस के चलते सोशल डिस्टेंसिंग का पर्याप्त मात्रा में ध्यान रखा जाए इसी को लेकर अब पुराना बस अड्डा की सब्जी मंडी आज दोपहर 2 बजे तक ही खुली,


कल यानी बुधवार को ही मंडी समिति ने ऐलान करा दिया था की वीरवार यानी आज से सभी मंडी दोपहर 2 बजे तक ही खुलेगी। जानकारी के अनुसार पुराना बस अड्डा सब्जी मंडी में लोक डाउन के बावजूद लोग बड़ी तादात में पहुंच रहे थे जिसके चलते लॉक डाउन का पूर्ण रूप से पालन नहीं किया जा रहा था, जिससे खतरा बना हुआ था, कहीं सब्जी मंडी में आने वाले लोग कोरोना से संक्रमित ना हो जाएं।यही कारण है कि 23 अप्रैल से सब्जी मंडी केवल दोपहर 2 बजे तक ही खुलेगी,और इस दौरान सामाजिक दूरी का पूरी तरह से पालन कराया जाएगा।


आदेश तोड़ने पर 10 स्कूलों को नोटिस

ग़ाज़ियाबाद। पूरे देश में लॉक डाउन के बावजूद स्कूलों द्वारा अभिभावकों से फीस मांगने के मामले में जिलाधिकारी गाजियाबाद ने फीस नही मांगने का आदेश जारी किया था। इसके बावजूद कुछ स्कूलों द्वारा फीस लगातार मांगी जा रही है। जिसके चलते जिला विद्यालय निरीक्षक ने 10 स्कूलों को नोटिस भेजकर 2 दिन में जवाब मांगा है। जवाब न मिलने पर अग्रिम कार्रवाई की चेतावनी भी दी है।


ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन के राष्ट्रीय महासचिव सचिन सोनी ने बताया कि ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन की शिकायत पर जिला विद्यालय निरीक्षक ने दिल्ली पब्लिक स्कूल(डीपीएसजी)वसुंधरा,दिल्ली पब्लिक स्कूल इंदिरापुरम,दिल्ली पब्लिक स्कूल सिदार्थविहार,प्रेसिडियम स्कूल इंदिरापुरम,प्रेसिडियम स्कूल राजनगर एक्सट्रेशन,आधारशिला ग्लोबल वसुंधरा,श्री ठाकुर द्वारा बालिका विद्यालय जी.टी रोड़,के.डी.बी कविनगर,अग्रेसन पब्लिक स्कूल वसुंधरा व जीडी गोयंका स्कूल इंदिरापुरम को नोटिस भेजा है। इस दौरान स्कूल प्रबंधकों से 2 दिन में जवाब मांगा है। सचिन सोनी ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा अधिनियम 2005 की धारा-51 के तहत जिला अधिकारी ने 6 अप्रैल 2020 को जनपद के सभी स्कूलों को लॉक डाउन अवधि में फ़ीस डिमांड न करने का नोटिस भेजा गया था।किंतु स्कूल प्रबंधकों की तरफ से लगातार पेरेंट्स को नोटिस भेज फ़ीस की डिमांड की जा रही है। जिसकी शिकायत ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवानी जैन,महासचिव सचिन सोनी ने 14 अप्रैल 2020 को जिला विद्यालय निरीक्षक से करते हुए उचित कार्यवाही की मांग की थी।जिसका संज्ञान लेते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक ने स्कूल निदेशक/प्रिंसिपल को नोटिस भेज कर आदेशित किया है कि विद्यालय में अध्यनरत किसी भी छात्र/छात्राओं को फ़ीस के लिए बाध्य न करे, और 2 दिन के अंदर नोटिस का जवाब उनके कार्यालय में दें अन्यथा वह इसकी पूरी जानकारी जिलाधिकारी को देंगे और फिर जो भी कार्यवाही होगी उसके लिए स्कूल प्रबंधन स्वयं जिम्मेदार होगा।


भ्रामकता पर मामला दर्ज कराने के निर्देश

गाजियाबाद। जनपद में कोरोना वायरस की रोकथाम एवं उपचार के उद्देश्य से बनाये गये अस्थाई कोरोनटाइन स्थलों में से कतिमय स्थलों का भ्रामक सूचनाएँ एवं वीडियो वायरल हुए हैं। जिनमें प्रशासन द्वारा वहाँ की गयी व्यवस्थाओं के संबंध में गलत एवं भ्रामक बाते की गयी हैं।


जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने आज ऐसी भ्रामक वीडियो वायरल करने वालों को चिन्हित करते हुए उनके विरुद्ध सुंसगत धाराओं में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराये जाने के निर्देश अपर जिलाधिकारी नगर को दिये हैं। वीडियो तैयार करने वालों के साथ- साथ उसे अग्रसित करने वालों की चेन भी तैयार की जा रही है, और उन्हें भी सह अभियुक्त बनाने के निर्देश जिलाधिकारी ने दिये हैं।


दिल्लीः सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते देशभर में लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर लगातार सरकार लोगों से अपील कर रही है। इसके साथ ही कोरोना संक्रमण फैलने के तरीकों और इनसे बचने के लिए भी लोगों को बताया जा रहा है। लेकिन इसके बावजूद दिल्ली के जहांगीर पुरी के एफ ब्लॉक में जो हुआ उसने प्रशासन के साथ ही सरकार के भी पसीने छुड़ा दिए हैं। सरकारी की ओर से लॉकडाउन के चलते फंसे प्रवासी मजदूरों और जरूरत मंद लोगों के लिए खाने का इंतजाम किया गया था।


इस दौरान सैकड़ाें की संख्या में लोगों की भीड़ लग गई।हालात ये हो गए कि जैसे ही गेट खोला गया और पंक्ति में रहने के लिए कहा गया लोगों का हुजूम टूट पड़ा। अब इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।हालांकि बताया जा रहा है कि ये घटना कुछ दिन पहले ही हुई थी। घायल हुए कुछ बच्चेः इस दौरान बड़ी संख्या में भीड़ के साथ बच्चे भी मौजूद थे।जैसे ही खाने को बांटने के लिए गेट खोले गए लोगों ने भागना शुरू किया।इस दौरान कई बच्चे गिर गए और लोगों के पैरों तले दबे।कुछ घायल भी हो गए।भीड़ को रोकने की भी कोशिश की गई लेकिन लोग नहीं रुके। अफवाह थी कि खाना खत्म हो रहा हैः जानकारी के अनुसार लोगों के बीच अचानक ये अफवाह फैल गई कि सरकार की ओर से दिया जाने वाला खाना खत्म होने जा रहा है जिसके बाद लोगों का सब्र टूट गया। इस बात की जानकारी मिलते ही प्रशासन ने एक अधिकारी को मौके पर भेजा और हालात सुधारने को कहा। अब भी यही हालः सरकार की ओर से जिन सेंटरों पर मुफ्त में खाना दिया जा रहा है वहां पर हालात अभी भी वही हैं। बताया जा रहा है कि हर दिन इसी तरह लोगों की भीड़ जमा होती है और खाना पहले लेने के लिए इनमें भगदड़ मचती है। इन्हें काबू में करने का प्रयास किया जाता है लेकिन कम कर्मचारियों के होने के चलते ऐसा करना संभव नहीं हो पाता है।


रखवाली पर गये किसान की हत्या

खेत की रखवाली कर रहे किसान की हत्या


तिल्हापुर कौशाम्बी। पूरामुफ्ती थाना क्षेत्र में एक किसान की हत्या कर दी गयी है किसान खेत की रखवाली करने रात में नलकूप पर गया था जहाँ सोते समय चारपाई में ही उसकी हत्या कर दी गयी है किसान की हत्या के बाद खून से लथपथ चारपाई पर किसान का शव मिला है।


जानकारी के मुताबिक पुरामुफ्ती थाना क्षेत्र के फतेहपुर घाट निवासी किसान इंद्र नारायण पाण्डेय उम्र लगभग 65 वर्ष पुत्र रामचंद्र पाण्डेय बीती रात खेत मे लगे टियूबबेल पर सोने चले गए थे। सुबह नलकूप की चारपाई में उनका शव मिला है। हत्या की जानकारी मिलते ही इलाके में सनसनी फैल गयी मृतक ट्यूबबेल में ही रहते सोते थे। 


घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस अधीक्षक श्री अभिनंदन सिंह अपर पुलिस अधीक्षक सीओ चायल डॉ कृष्ण गोपाल सिंह सहित कई थानों की पुलिस मौके पर मौजूद है और घटना के कारण पर मृतक के परिजनों समेत ग्रामीणों से बात की थाना पुलिस ने किसान का शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। एसपी के निर्देश पर हत्यारों की तलाश में पुलिस जुटी है खोजी कुत्ते से खोजबीन जारी है और पुलिस ने घटना की खोजबीन शुरू कर दी है। मृतक के तीन पुत्र मुन्नू पांडे 40 वर्ष रिंकू पांडे 30 साल विनय पांडे 28 वर्ष है जिनमे दो पुत्र गुजरात मे नौकरी करते है।


मदन केशरवानी


काम करने का तरीका बदलाः मोदी

सरपंचों से बोले पीएम मोदी- कोरोना ने हम सभी के काम करने के तरीके को बदला


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर आज देशभर के सरपंचों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए से बातचीत की और ई-ग्राम स्वराज पोर्टल एवं मोबाइल ऐप को लॉन्च किया।


पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना ने हम सभी के काम करने के तरीके को बहुत बदल दिया है। पहले हम किसी कार्यक्रम को आमने सामने रहकर करते थे। लेकिन आज वही कार्यक्रम वीडियो कॉन्फेंसिंग के माध्यम से करना पड़ रहा है। आज इस कार्यक्रम में जुड़े सभी लोगों का मैं स्वागत करता हूं। देश में जारी बंद की वजह से और सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए आज प्रधानमंत्री विभिन्न प्रतिभागियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत कर रहे थे। एकीकृत पोर्टल पंचायती राज मंत्रालय की एक नई पहल है जो ग्राम पंचायतों को अपनी ग्राम पंचायत विकास योजना को तैयार करने और कायार्न्वित करने में मदद करती है।


महाराष्ट्र सीएम को ठेके खोलने की सलाह

मुंबई। महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के चीफ राज ठाकरे ने अपने चचेर भाई और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी में राज ठाकरे ने सीएम उद्धव ठाकरे से कहा है कि राज्य में शराब की दुकानें खोल दी जाएं, जिससे राजस्व मिलता रहे और घाटा ना हो। इससे पहले राज ठाकरे ने कहा था कि लॉकडाउन के कारण राज्य का खजाना तेजी से खाली हो रहा है। मुख्यमंत्री कार्यालय को लिखी गई इस चिट्ठी में राज ठाकरे कहते हैं, 'शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति देने का मतलब यह नहीं है कि यह शराब पीने वालों की जरूरत पूरी करने की कोशिश है, बल्कि इसके जरिए मुश्किल वक्त में भी राजस्व जुटाया जा सकता है। जैसा ही अभी कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन में चल रहा है।


सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए खुलें दुकानें:-


राज ठाकरे ने कहा है कि एक महीने पहले लॉकडाउन लागू होते ही शराब की दुकानें बंद की गई थीं। अब इन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए खोला जा सकता है। इस समय राज्य सरकार को किसी नैतिक मुद्दे पर फंसने की बजाय मुश्किल वक्त में जरूरी फैसला लेना चाहिए।एमएनएस चीफ राज ठाकरे ने आगे लिखा है, 'मुश्किल का सामने करते हुए हल निकालने की जरूरत है। 3 मई तक चलने वाले लॉकडाउन के कारण राज्य का खजाना तेजी से खाली हो रहा है।' राज ठाकरे ने यह भी मांग की है कि होटल और किचन्स को अनुमति दी जाए कि वे भी सोशळ डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपना काम शुरू करें। इसके पीछे राज ठाकरे ने यह तर्क रखा है कि महाराष्ट्र का एक बड़ा तबका बाहर के खाने पर ही निर्भर है। उन्होंने कहा है कि इन सब गतिविधियों से राज्य सरकार की कमाई होगी। अच्छी खबर! 10 दिनों में नहीं आया कोरोना का एक भी केस, मुंबई के 9 इलाके कंटेनमेंट जोन से बाहर।


मुंबई का हाल बेहाल, लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले


आपको बता दें कि महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। सिर्फ मुंबई शहर में कोरोना के तीन हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं और अभी भी हर दिन सैकड़ों मामले सामने आ रहे हैं। यही कारण है कि स्थिति पर काबू पाने के लिए केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र को प्लाज्मा तकनीकि से कोरोना के मरीजों के इलाज की टेस्टिंग करने की अनुमति भी दे दी है। महाराष्ट्र में कोरोना के मामलों की संख्या 5652 हो चुकी है, जिसमें से कुल 269 लोगों की मौत भी हो चुकी है। वहीं, राज्य में अब तक कुल 779 लोग कोरोना से ठीक भी हो चुके हैं।


मोहाली में 63, पंजाब में 277 संक्रमित

मधुसूदन मिस्त्री की रिपोर्ट


मोहाली । सेक्टर-18 की 82 साल की बुजुर्ग की संपर्क में 28 लोगों की रिपोर्ट भी वीरवार को नेगेटिव आई है। बुजुर्ग दर्शना को पहले इलाज के लिए पंचकूला के लिए अलकेमिस्ट हॉस्पिटल में एडमिट किया गया था। जिन 28 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। उसमें 82 साल की बुजुर्ग के परिवार के आठ सदस्य शामिल हैं। जबकि अस्पताल के स्टाफ और कांटेक्ट में आए बाकी लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। बुजुर्ग की हालत पहले से अब ठीक है। लेकिन उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही है। जिसके चलते ऑक्सीजन पर रखा गया है। चंडीगढ़ में कुल 27 मरीजों में से 14 ठीक हो चुके हैं। वहीं 13 लोगों का इलाज चल रहा है।पंजाब के फगवाड़ा की छह महीने की रितिका के संपर्क में पीजीआइ के 18 डॉक्टरों समेत कुल 54 लोग संपर्क में आए थे। वीरवार को इन सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। इन लोगों में पीजीआइ के पीडियाट्रिक, रेडियोलॉजी और कार्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के 18 डॉक्टर शामिल थे। जबकि 15 नर्सिग ऑफिसर, 13 स्टाफ अटेंडेंट, दो फिजियोथेरेपिस्ट और छह एक्स रे व रेडियोलॉजी स्टाफ अटेंडेंट शामिल थे। इन सभी 54 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। दूसरी ओर कोरोना हॉटस्पॉट मोहाली में वीरवार को दो दिन के बाद कोरोना वायरस का एक और नया पॉजिटिव मामला सामने आया है। वीरवार को पीजीआई में रितिका ने कोरोना वायरस के चपेट में आने से दम तोड़ दिया था। बच्ची के पिता रामू और उनकी पत्नी के सैंपल बुधवार को जांच के लिए भेजे गए थे। बच्ची के मां-बाप की रिपोर्ट भी वीरवार दोपहर नेगेटिव आई है। जबकि बच्ची के नाना-नानी को होम क्वारंटाइन किया गया है। बच्ची की नानी और नाना की रिपोर्ट भी नेगेटिव आई है। अब सवाल यह उठ रहा है कि मासूम बच्ची को आखिरकार कोरोना कैसे हुआ। बच्ची के पिता रामू का कहना है पीजीआइ के डॉक्टरों और नर्सिग स्टाफ से ही उसकी बच्ची को कोरोना हुआ है। इस मामले में पीजीआइ प्रशासन की ओर से जांच की जा रही है।


जिले में वीरवार को दो दिन के बाद कोरोना वायरस का एक और नया पॉजिटिव मामला सामने आया है। यह केस नयागांव के आदर्श नगर में रहने वाले 30 वर्षीय युवक का है। आदर्श नगर में 17 अप्रैल को पीजीआइ कर्मचारी में कोरोना मिला था जिसके बाद रविवार को उसके घर से चार सदस्य जिनमें उसकी 26 वर्षीय पत्नी, एक महीने की लड़की, 20 साल का साला व 60 साल की सास भी कोरोना पॉजिटिव मिले थे। इनमें दो मरीजों को पीजीआइ व दो मरीजों को ज्ञान सागर अस्पताल में आइसोलेट किया गया है। जिस 30 वर्षीय युवक में कोरोना पाया गया है, वह भी नयागांव की उसी बिल्डिंग में रह रहा था जिसमें पीजीआइ कर्मचारी रहता है। उसके संपर्क में आने पर उसमें कोरोना मिला है। इस बिल्डिंग में कुल 40 कमरे हैं। इस समय 22 परिवार वहां मौजूद हैं जबकि 18 परिवार लॉकडाउन के बाद से अपने-अपने घरों में जा चुके हैं। वीरवार को कोरोना का एक नया मामला सामने आने के बाद अब मोहाली में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 63 तक पहुंच गई है। जबकि 14 लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 47 मामले एक्टिव हैं जिनमें दो कोरोना मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। बता दें कि अब तक 1104 लोगों के सैंपल लिए जा चुके हैं जबकि 45 की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।


राष्ट्रपति की पत्नी सील रही है 'मास्क'

नई दिल्ली। भारत की प्रथम महिला सविता कोविंद कोरोनावायरस से जंग में आगे आई हैं। वह खुद फेस मास्क सिल रही हैं। बीते बुधवार उन्होंने राष्ट्रपति भवन के शक्ति हाट में सिलाई मशीन पर बैठ खुद मास्क सिले। उनकी सादगी देख हर कोई उनसे प्रभावित हो गया। खुद कपड़े का बना लाल रंग का मास्क लगाए वह मास्क सिलती नजर आईं। यह मास्क दिल्ली के अलग-अलग शेल्टर होम भिजवाए जाएंगे। सविता कोविंद की इस पहल से उन्होंने संदेश दिया है कि हर कोई कोरोनावायरस से लड़ सकता है।


हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना से बचने के लिए लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, साथ ही वह भीड़भाड़ वाली जगहों में जाने पर मास्क जरूर लगाएं। इस समय कोरोना से बचाव के लिए बाजार में तीन लेयर वाले सर्जिकल मास्क, N-95 मास्क व कपड़े के बने मास्क मिल रहे हैं। हाल ही में पीएम नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा था कि लोग कपड़े से बने मास्क का इस्तेमाल करें। पीएम खुद कई बार मुंह को गमछे से ढक सामने आ चुके हैं। पीएम मोदी ने कुछ दिनों पहले अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बीजेपी जिलाध्यक्ष से फोन पर बात की थी। इस दौरान पीएम ने उनसे कहा था कि वह ज्यादा से ज्यादा लोगों को मास्क के बदले गमछे का इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित करें।


टीचर बनाने वाले पति की निर्मम हत्या

झज्जर। प्रेमी संग मिलकर अपने पति की हत्या करने के जुर्म में पुलिस में आरोपी महिला को गिरफ्तार कर रिमांड पर लिया है। पुलिस अधीक्षक बलवान सिंह राणा ने इस मामले में जल्द से जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश दिए गए थे। जिस पर तत्परता से कार्यवाही करते हुए एसआई नरेन्द्र सिंह प्रबन्धक थाना सदर दादरी द्वारा आरोपी जयवीर पुत्र दरियावसिंह वासी घसौला हाल वार्ड न0 17 चरखी दादरी को गिरफ्तार कर अदालत चरखी दादरी से दिनांक 25 अप्रैल तक पुलिस रिमाण्ड पर लिया गया है।


पुलिस प्रवक्ता सुमित साॅगवान ने बताया कि अभियोग मे आगामी कार्यवाही करते हुए एसआई नरेन्द्र प्रबन्धक थाना सदर दादरी द्वारा अपने पति की हत्या करवाने की आरोपी मोनिका देवी पत्नि मृतक प्रदीप वासी चरखी पुत्री श्रीराम सिंह वासी छप्पार जिला झज्जर को गिरफतार करके गहनता से पुछताछ की गई। आरोपी मोनिका ने पुछताछ मे बताया कि जयवीर से करीब दो वर्ष पहले कुरूक्षेत्र मे बीएड करने के दौरान आपस मे दोस्ती हो गई थी। जिसका आरोपिता मोनिका के मृतक पति प्रदीप को शक होने पर प्रदीप मोनिका के साथ लडाई झगडा करने लग गया था। जिसके कारण दोनो ने आपस मे मिलकर प्रदीप को ठिकाने लगाने की ठान ली। दोनो की योजना के अनुसार दिनांक 10 अप्रैल को मोनिका ने अपने पति प्रदीप को जयवीर के घर भेज दिया व जयवीर को फोन से बता दिया जयवीर ने मोनिका के कहे अनुसार प्रदीप को जूस मे नींद की गोलिया पिलाकर व उसके बाद ईन्जैक्शन लगाकर मौत के घाट उतार दिया। आरोपी मोनिका को आज अदालत मे पेश किया गया जो अदालत द्वारा आरोपी को जिला जेल झज्जर में बन्द करने के आदेश दिए।


जनप्रतिनिधियों की सुविधाओं में हो कटौती

सरकारी सेवकों (कोरोना युग के कर्मयोद्धाओं) की निकली आह !


हमें तो लूट लिया कोबिड-2019 ने 


सांसदों, विधायकों एवं मंत्रियों को अकूत सुविधाओं में कटौती, चुनाव सभाओं पर रोक लगे


मिर्जापुर । शोले फ़िल्म का एक डायलाग आज भी लोग दुहराते है । गब्बर सिंह डाकू बोलता- तुम थे तीन और वे थे दो !... हा, हा, हा... तीनों बच गए ? आदि आदि ! उसी डाकू सा खौफ इन दिनों कोरोना वायरस को लेकर है । एक समय आएगा, जब क्रोध में सक्षम व्यक्ति अपने से कमजोर को श्रापेगा- जाओ ! तुम्हें कोरोना हो जाए । मां बच्चे को डराएगी- बेटा सो जाओ, नहीं तो कोरोना आ जाएगा । आदि आदि । कोरोना की गाज गिर ही गई -केंद्रीय सरकार की सेवाओं में कोरोना टैक्स के रूप में समूह क से घ तक के *DA* जुलाई 21 तक रोक देने से 3 DAवृद्धि ( डियरनेस एलाउंस) नहीं मिलेगी जिससे इस अवधि में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी को प्रत्यक्षतः 71780/-से लेकर प्रथम श्रेणी के अधिकारी वर्ग का तीन लाख 41 हजार के लगभग अब सरकार नहीं देगी । यानी इस देनदारी से सरकार मुक्त हो गई । सरकार काम पूर्ववत लेगी  लेकिन उक्त धनराशि  उसके खाते में बच जाएगी ।


अर्धवार्षिक वेतन वृद्धि से लेकर जीवन पर्यंत मिलने वाले पेंशन पर असर - सरकार के इस निर्णय से 6-6 माह पर महंगाई सूचकांक के आधार पर वर्तमान में मिलने वाली प्रतिमाह की वृद्धि अब नहीं मिलेगी । इसका असर सेवा निवृत्ति के बाद पेंशन पर पड़ेगा क्योंकि वृद्धि होते होते बढ़े हुए मूल वेतन का 50% पेंशन मिलता है । 


यह वृद्धि कैसे होती है- मान लिया जाए कि 100 रुपए वेतन है । इस पर 17% DA के बाद हर साल जनवरी में कर्मचारी के वेतन में 4% वृद्धि होती है तो इस वृद्धि को जोड़कर उसी जुलाई और फिर अगले  वर्ष जनवरी  में 4% वृद्धि होती । यानी एक साल में 12% वृद्धि वेतन में हो जाती । लेकिन अब सरकारी सेवकों को जुलाई '21 में भी 117/- ही मिलेंगे । यदि पुराना नियम रहा तो जुलाई '21 में 117/- मूल वेतन माना जाएगा । इससे पूरी सेवावधि पर वेतन में कमी आएगी, साथ में पेंशन निर्धारण में भी फर्क आएगा ।


कर्मचारी कसमसा रहे हैं- केंद्रीय सेवाओं में यह नियम लागू होने के कारण केंद्र के साथ प्रदेश सरकार के कर्मचारी कसमसा गए हैं।  इनका तर्क है कि यह नियम प्रदेश में लागू जरूर होगा । कई प्रदेशों ने लागू कर दिया है । कर्मचारी संगठन लॉकडाउन से अभी बोल्ड नहीं हो रहे हैं । लेकिन संकेत आने लगे कि कर्मचारी संगठन इसको लेकर महाभारत कर सकते हैं ।


जो सेवा में नहीं हैं- जो सरकारी सेवा में नहीं है, वे या तो इस मुद्दे पर अनजान होने के नाते निष्क्रिय हैं जबकि वे जो सरकारी सेवकों से खुन्नस खाए रहते हैं कि सरकारी सेवा में बहुत ऊपरी कमाई है, वे इस कटौती से प्रसन्न हैं । लेकिन इस कटौती से जब कर्मचारियों की क्रय-शक्ति घटेगी और पूंजी का प्रवाह टेहरी में डैम बनने से गंगा के सिकुड़ने की तरह होगा तब मार्केट में उसका बुरा प्रभाव पड़कर रहेगा ।सरकारी सेवकों का सुझाव- सरकार खर्चों में कटौती करे । वर्ष भर में समीक्षा के लिए राजधानियों में होने वाली बैठकों की जगह वीडियो कांफ्रेंसिंग सिस्टम का प्रयोग हो । पत्राचार के लिए दूत (मैसेंजर) की जगह ऑनलाइन पत्राचार हो जिससे टीए, डीए में बचत होगी । मंत्रियों, अधिकारियों की विदेश यात्राओं पर रोक लगे । फिजूल के प्रचार पर रोक लगे । सरकारी क्षेत्र में हर स्तर (मंत्री से लेकर निचले स्तर तक) दौरों तथा स्वागत समारोहों, शिलान्यास तथा लोकार्पण समारोह ऑनलाइन हो । अगले 5 सालों में होने वाले चुनाव सभाएं रोकी जाएं । नेताओं का उद्बोधन आनलाइन ही हो ।होटलों की जगह लाज में ठहरें- सरकारी दौरों के वक्त 3/5 स्टार होटलों में रक कर भारी धनराशि के व्यय को रोका जाए । हवाईवयात्राओं पर सरकार कटौती करे । कम्प्यूटर युग के पूर्व से चली आ रही विदेशी दूतावासों पर होने वाले व्यय कम किए जाएं । अनावश्यक जांच आयोगों तथा निरर्थक आयोगों का गठन रोका जाए ।


सलिल पांडेय


चौथे स्तंभ की ना कोई सुध ना परवाह

न्याय के चौथे स्तंभ पत्रकारों  का नहीं  ले रही सुध -- केंद्र सरकार


प्रयागराज। हम देख रहे हैं कि कोरोना योद्धाओं में डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ, नर्सों, हेल्थ वर्करों, सफाई कर्मियों व पुलिस कर्मचारियों के कल्याण व सुरक्षा की बहुत बात हो रही है, यह अच्छी बात है लेकिन इस महामारी से पूरे देश-दुनिया को जगाने वाले इन वीर जांबाज न्याय के चौथे स्तंभ पत्रकारों की पता नहीं क्यों? आज तक किसी सरकार/ राजनैतिक पार्टी/ स्वयंसेवी संगठनों/धार्मिक संस्थाओं या उद्योगपतियों ने भी कोई सुध नहीं ली है। जबकि ये लोग अपने आप को हाईलाइट करवाने के लिए  पत्रकारों के मुरीद माने जाते हैं।


कोरोना  से संबंधित  पल-पल की खबरें/अपडेट देने में सबसे आगे पत्रकार अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं।दुनिया को खबरों से रोशन करने वाले हमारे पत्रकार बंधु स्वयं चिराग तले अंधेरे में जी रहे है।आज पत्रकार भी 20-20 घंटे ड्यूटी देता है। वह और उसका परिवार भी कोरोना की चपेट में आ रहा है। पत्रकारों का परिवार  भी परेशानी  का शिकार हो रहा है लेकिन ना तो केंद्र सरकार,ना ही  उत्तर प्रदेश सरकार और ना ही कोई अन्य राज्य सरकार इस ओर ध्यान दे रही है। मैं अपने देश की सरकारों से पूछना चाहता हूं कि क्या पत्रकार इस देश का नागरिक नहीं है? क्या पत्रकार कोई इंसान नहीं है? क्या पत्रकारों की जान और काम का कोई महत्व या मोल नहीं है?


(BK) मैंने अभी तक इस महामारी के भीषण दौर में सरकार को पत्रकारों की जान माल की रक्षा के लिए कोई जमीनी राहत पैकेज जारी करते नहीं  सुना है? हां इतना जरूर है कि प्रधानमंत्री जी ने पत्रकारों के कार्यों की मौखिक तारीफ अवश्य की है। परंतु पत्रकार को कोई सुविधा या सरकार से मदद नहीं मिली, माननीय प्रधानमंत्री जी,केंद्रीय गृहमंत्री एवं राज्यों के सभी माननीय मुख्यमंत्रियों से माँग करता हूं कि आप भी तत्काल इन पत्रकारों की सुध लें।अपने विशेषाधिकार से आपदा फंड के तहत फौरी तौर पर देश के सभी शक्रिय पत्रकारों को ₹10000/- प्रति माह के हिसाब से तुरंत इनके खाते में पैसे डलवाए साथ ही इनके परिवार को 3 महीने का राशन अग्रिम भिजवाए, इसके अलावा इन्हें भी फील्ड ड्यूटी हेतु सुरक्षा किट उपलब्ध कराएं और इनका भी रैपिड टेस्ट करवाएं।


याद रखें!यदि न्याय के चौथे स्तंभ  पत्रकारों का  ख्याल नहीं  तो यहां आम और खास की भी कोई आवाज सुनने वाला नही है।


 बृजेश केसरवानी 


15 नए संक्रमित, 197 पहुंचा आंकड़ा

बिहार में 15 नए कोरोना पॉजिटिव केस, 197 पहुंचा आंकड़ा


अजय दीप चौहान


पटना। बिहार में कोरोना से जुड़ी इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है। एक साथ कुल 15 पॉजीटिव केस सामने आए हैं। यह सभी मुंगेर जिले के जमालपुर के सदर बाजार इलाके से जुड़े हुए हैं। सरकार की तरफ से दी गई जानकारी में बताया गया है कि जमालपुर सदर बाजार में 15 नए कोरोना वायरस मरीजों की पहचान हुई है। सूबे में यह आंकड़ा 197 हो गया है।


सदर बाजार इलाके से कोरोना के जो नए मरीज सामने आए हैं, उनमें 5 पुरुष और 10 महिलाएं शामिल हैं. जमालपुर के सदर बाजार इलाके में जिन पुरुष मरीजों की पहचान हुई है उनकी उम्र 14 साल, 18 साल, 30 साल के दो मरीज और 46 साल के एक पुरुष शामिल हैं। 10 महिलाओं में अलग-अलग आयु वर्ग के मरीज शामिल हैं। 10 साल की उम्र की दो बच्चियों के अलावे 12 साल की एक बच्ची भी पॉजिटिव पाई गई है। इसके अलावे 20 साल, 23 साल, 25 साल, 30 साल, 37 साल और 38 साल की महिलाएं इनफेक्टेड पाई गई हैं।


लॉक डाउनः नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म

संतोष कुमार


पटना। कोरोना महामारी और लॉकडाउन के बीच पटना में हुई एक घटना ने सबको शर्मसार कर दिया है। पटना की एक नाबालिग बच्ची के साथ तीन दोस्तों ने गैंगरेप किया है। मामला मसौढ़ी के भगवानगंज थाने के एक गांव का है। घटना के बारे में मिली जानकारी के मुताबिक भगवानगंज थाने के एक गांव की रहने वाली 14 साल की बच्ची के साथ तीन दोस्तों ने रातभर सामूहिक दुष्कर्म किया है। घटना 21 अप्रैल को हुई। बताया जा रहा है कि घर से शौच के लिए निकली नाबालिग युवती को तीन दोस्तों ने बाइक पर अगवा कर लिया। इसके बाद वह नाबालिग युवती को लेकर भजौर गांव स्थित सरकारी विद्यालय के पास गए और रात भर उसके साथ दुष्कर्म किया। घटना के अगले दिन जब पीड़िता वापस आई तो उसने अपने परिवार वालों को पूरी आपबीती सुनाई। पीड़िता की तरफ से पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी गई है। भगवानगंज थाने में तीनों नामजद आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। नाबालिग के साथ दुष्कर्म को अंजाम देने वाले भजौर गांव के निवासी राजेश कुमार, सुजीत कुमार और जामुन टोला के रहने वाले भूषण कुमार शामिल थे। पुलिस ने इस मामले में सभी आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है। अब भगवानगंज पुलिस पीड़िता का मेडिकल कराएगी। पीड़िता का बयान धारा 164 के तहत न्यायालय में कलमबद्ध कराया गया है।


रोजगारः ठोस योजना बनाने के निर्देश

रोजगार के संबंध में मुख्यमंत्री ने एक सप्ताह के भीतर ठोस योजना बनाने के निर्देश दिये ।


रिपोर्ट -सविता शर्मा


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ जी ने ग्रामीण क्षेत्रों में आए व्यक्तियों हेतु रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए प्रस्तुतीकरण का अवलोकन किया एवं प्रदेश में आगामी 3 से 6 महीने के भीतर कम से कम 15 लाख लोगों के रोजगार ठोस कार्य योजना बनाने का निर्देश दिया । मुख्यमंत्री जी ने उनके संबंध में विभिन्न विभागों को 1 सप्ताह के भीतर कार्य योजना बनाकर प्रस्तुत किए जाने का निर्देश दिए हैं उन्होंने कहा है कि  एम. एस. एम. ई. ओ. डी. ओ. पी. एन. आर. एल. एम. उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना कौशल विकास मिशन खादी ग्राम उद्योग तथा मनरेगा के माध्यम से रोजगार सृजन के कार्यों में तेजी लाई जाए उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के बाद रोजगार सृजन और अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाना एक चुनौती है जिसके लिए अभी से तैयार की जाए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिशु ता( अप्रेंटिसशिप ) प्रोत्साहन योजना के तहत युवाओं को लोगों में प्रशिक्षण के साथ-साथ 2.500 का मासिक प्रशिक्षण भत्ता प्रदान किए जाने की व्यवस्था की गई है 1 वर्ष में एक लाख युवाओं को यह सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी मुख्यमंत्री जी ने कहां की इस योजना के तहत 2 लाख युवाओं को जोड़े जाने की कार्य योजना बनाए जाने की संभावनाओं को तलाशकी जाए तथा रोजगार अथवा स्वरोजगार के माध्यम से आर्थिक स्वावलंबन के लिए युवाओं को 'युवा हब'के माध्यम से भी भी ज्यादा से ज्यादा रोजगार उपलब्ध कराया जाए ।


 


केंद्र ने तोड़ी पंजाब सरकार की उम्मीद

पंजाब सरकार ने मांगी लॉकडाउन में शराब बेचने की इजाजत


गृह मंत्रालय ने जताई कोरोना की वजह से असमर्थता


चंडीगढ़/ नई दिल्ली। पंजाब में लॉकडाउन के दौरान शराब के शौकीनों की चाहत पूरी होने की उम्मीदों पर पानी फिर गया है। लॉकडाउन पार्ट-1 में पंजाब सरकार ने राज्य में शराब की बिक्री जारी रखी थी। लेकिन लॉकडाउन-दो में शराब बंदी की वजह से पंजाब में भी शराब की बिक्री बंद है। 15 अप्रैल से लॉकडाउन बढ़ने और दिशानिर्देश आने के बाद पंजाब की कैप्टन सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से शराब बेचने की इजाजत की मांग की थी। लेकिन गृह मंत्रालय ने इसकी छूट देने से साफ इनकार कर दिया है।


बता दें कि बीते 14 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन का समय 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की थी। इसके अगले दिन गृह मंत्रालय ने बढ़े हुए लॉकडाउन के दौरान पालन करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए थे। इन दिशानिर्देशों में शराब की बिक्री पर भी पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया था। जबकि इससे पहले पंजाब, पश्चिम बंगाल, असम और मेघालय आदि राज्यों में शराब की बिक्री जारी रखी गई थी। इसी को देखते हुए पंजाब सरकार ने गृह मंत्रालय से शराब की बिक्री खोलने की मांग की थी। केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान पंजाब सरकार ने शराब की दुकानें खोलने का अनुरोध किया था लेकिन मंत्रालय ने उसे खारिज कर दिया। मंत्रालय द्वारा 15 अप्रैल को जारी दिशा निर्देशों के अनुसार लॉकडाउन के दौरान शराब, गुटखा, तंबाकू आदि की बिक्री पर कड़ा प्रतिबंध है।


परशुराम जयंती के उपलक्ष में बैठक

सुधीर कुमार


नवाब गंज। विकासखंड नवाबगंज के अन्तर्गत ग्राम बिरसिंहपुर में युवा भारतीय ब्राह्मण महासभा उन्नाव के तत्वावधान में अध्यक्ष /संस्थापक पंडित अशोक बाजपेयी वेदान्ती के अध्यक्षता में भगवान परशुराम के प्राकट्य दिवस मनाये जाने के लिए एक बैठक सुनिश्चित की गई । इस बैठक में महासभा के अध्यक्ष ने बताया कि विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी भगवान परशुराम की जयंती २५ अप्रैल २०२० दिन शनिवार को मनाया जाएगा।उन्होंने सभी सम्मानित बन्धुओं से अपील की है कि इस समय वैश्विक महामारी को देखते हुए भगवान परशुराम की जयंती को अपने घरों पर सात से लेकर इक्कीस दीपक जलाकर मनाये और कोरोना जैसी महामारी को भगाने के लिए प्रार्थना करें । सभी संभ्रांत व्यक्तियों ने लॉकडाउन का पालन करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया। इस बैठक में महासभा के सभी पदाधिकारियों ने भाग लेकर अपने विचार व्यक्त करते हुए भगवान परशुराम की जयंती मनाने के लिए संकल्प लिया ।इस बैठक में पदाधिकारी जिसमें वरिष्ठ उपाध्यक्ष पं रमा शंकर त्रिपाठी, पं सतीश अवस्थी, महामंत्री पं सुधीर शुक्ल, मंत्री पं सुमित त्रिवेदी, पं राजेंद्र प्रसाद शुक्ल ,पं विजय शुक्ला, पं विजय शंकर मिश्र,पं अमित मिश्रा पं सत्यार्थ वेदान्ती आदि कार्यकर्ताओं ने प्रतिभाग किया ।कार्यक्रम का संचालन पं कमल बाजपेयी ने किया ।


यूपी में शराब-बीयर होगी सस्ती

शशांक तिवारी की रिपोर्ट


लखनऊ। लॉकडाउन खुलने के पहले हफ्ते में उत्तर प्रदेश में देसी व अंग्रेजी शराब और बीयर सस्ती बिक सकती है। यह नौबत राज्य के आबकारी विभाग की ओर से गुरुवार को लिए गए फैसलों की वजह से आ सकती है। विभाग के प्रमुख संजय आर.भूसरेड्डी ने इस बारे में विस्तृत शासनादेश जारी किया है। 


लॉकडाउन की वजह से प्रदेश में शराब व बीयर की बिक्री प्रभावित होने और दुकानों के लाइसेंस आवंटन की पहले से तय शर्तों को कोरोना संकट की वजह से पूरा न कर पाने की फुटकर और थोक विक्रेताओं की दिक्कतों के निस्तारण के लिए यह शासनादेश जारी किया गया है। इसमें कहा गया है कि देसी, अंग्रेजी शराब और बीयर की दुकानों पर पूरे प्रदेश में जो स्टाक बचा हुआ है, उसे लाकडाउन खुलने के सात दिनों के भीतर बेचना होगा। इन सात दिनों के बाद उक्त बचे हुए स्टाक को नष्ट कर दिया जाएगा। ऐसी सूरत में हर थोक व फुटकर विक्रेता अपने स्टाक को लॉकडाउन खुलने के इन शुरुआती सात दिनों में ही हर हाल में बेचना चाहेगा। इसके लिए शराब व बीयर के दाम घटाए भी जा सकते हैं। बार व क्लब के संचालकों को स्टाक खपाने के लिए लाकडाउन खुलने से एक पखवारे की अवधि की अनुमति दी गई है।इस शासनादेश के अनुसार प्रदेश में देसी शराब की दुकानों जिनके लाइसेंस का नवीनीकरण हो गया है और जिनका नहीं हुआ। ऐसी कुल 12467 दुकानें हैं और इनमें लगभग 736830 पेटी देसी शराब का स्टाक बचा हुआ है। जिसका अनुमानित मूल्य लगभग 215.20  करोड़ है।


 


इसी तरह देसी शराब के थोक विक्रेताओं जिनके लाइसेंस का नवीनीकरण हुआ है और जिनका नहीं हुआ है, के यहां लगभग 249954 पेटी देसी शराब का स्टाक बचा हुआ है जिसका अनुमानित मूल्य लगभग 215 करोड़ रुपये है।अंग्रेजी शराब और बीयर की फुटकर दुकानों और माडल शाप पर लगभग 960036 पेटी अंग्रेजी शराब और बीयर का स्टाक बचा है। शासनादेश में कहा गया है कि लाकडाउन खुलने के 24 घंटे के भीतर थोक और फुटकर विक्रेताओं को अपने पूरे स्टाक की घोषणा करनी होगी। इस शासनादेश के अनुसार प्रदेश में देसी शराब की दुकानों जिनके लाइसेंस का नवीनीकरण हो गया है और जिनका नहीं हुआ। ऐसी कुल 12467 दुकानें हैं और इनमें लगभग 736830 पेटी देसी शराब का स्टाक बचा हुआ है। जिसका अनुमानित मूल्य लगभग 215.20  करोड़ है।इसी तरह देसी शराब के थोक विक्रेताओं जिनके लाइसेंस का नवीनीकरण हुआ है और जिनका नहीं हुआ है, के यहां लगभग 249954 पेटी देसी शराब का स्टाक बचा हुआ है जिसका अनुमानित मूल्य लगभग 215 करोड़ रुपये है। अंग्रेजी शराब और बीयर की फुटकर दुकानों और माडल शाप पर लगभग 960036 पेटी अंग्रेजी शराब और बीयर का स्टाक बचा है। शासनादेश में कहा गया है कि लाकडाउन खुलने के 24 घंटे के भीतर थोक और फुटकर विक्रेताओं को अपने पूरे स्टाक की घोषणा करनी होगी। शासनादेश में वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए थोक और फुटकर कारोबार करने के लिए लाइसेंस हासिल कर चुके लाइसेंसियों को देसी शराब की उठान के अप्रैल  के न्यूनतम मासिक कोटे की अनिवार्यता में छूट प्रदान की गई है। इसी तरह गुजरे वित्तीय वर्ष के अंतिम महीने मार्च में भी देसी शराब की न्यूनतम गारंटी कोटे के मुताबिक उठान न कर पाने वाले कारोबारियों को भी छूट दी गई है।


बरसात बढ़ाएगी किसानों की मुश्किल

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। प्रदेश के कई जिलों में 26 से 28 तारीख तक बारिश के आसार बताए जा रहे हैं। इससे पहले हिसार व पानीपत समेत कई जिलों में गुरुवार सुबह बूंदाबांदी भी हुई। साथ ही दिनभर बादल छाए रहे। इससे दिन का पारा कई जिलों में 30 डिग्री से नीचे आ गया। हिसार में यह 29 डिग्री रहा जो सामान्य से 10 डिग्री कम है। रोहतक में यह 28.8 डिग्री रहा। हरियाणा के रोहतक व हिसार, हिमाचल प्रदेश के कुल्लू व चंबा से भी ठंडे इलाके रहे हैं। कुल्लू व चंबा में दिन का पारा जहां 29.2 रहा, वहीं रोहतक व हिसार में यह 28.8 डिग्री दर्ज किया गया।


मौसम विभाग चंडीगढ़ के अध्यक्ष डॉ सुरेंद्र पाल के अनुसार 26 अप्रैल से फिर पश्चिमी विक्षोभ का असर दिख सकता है। इससे 26 से 28 अप्रैल तक कई जिलों में बारिश हो सकती है। यही नहीं कई जगह 29 अप्रैल को भी हल्की बारिश होने की संभावना है। इसके साथ ही तेज हवा चल सकती हैं कुछ स्थानों पर ओले भी पढ़ सकते हैं।


कोड़िंग और चिप लगा गिद्दा मिला

कुशीनगर। कुशीनगर के बरवापट्टी थाने के रामपुर बरहन के बकुलहवा गांव में गन्ने के खेत में कोडिंग और बड़ा चिप लगा गिद्ध मिला। इसकी सूचना मिलते ही मौके पर ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी। वहीं सूचना पर एसओ अरविंद कुमार भी फोर्स के साथ मौके पर आ गए।पुलिस ने आते ही गिद्ध को कब्जे में लेकर वन विभाग को सौंप दिया। तमकुही रेंज के वन क्षेत्राधिकारी नृपेंद्र कुमार चतुर्वेदी के अनुसार, यह पक्षी गिद्ध है, जिसे किसी शोध संस्था ने अपना कोडिंग और लोकेशन ट्रेस करने के लिए चिप लगा रखा है।


उन्होंने कहा कि प्रायः विलुप्त हो रहे पशु पक्षियों के लिए उसके अस्तित्व को जानने के उद्देश्य से टैगिंग किया जाता है लेकिन अभी बहुत कुछ स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। इसके लिए डीएफओ कुशीनगर को अवगत कराया गया है। फिलहाल वह भूखा है, इसलिए उसके मांसाहारी  भोजन का प्रबंध किया जा रहा है।


पॉजिटिव केसों की संख्या-60 हजार

मॉस्को। दुनिया में कोरोना वायरस तेजी से अपना पांव पसार रहा है। अमेरिका, स्पेन और इटली में इसका सबसे ज्यादा असर देकने को मिल रहा है। वहीं, रूस में भी कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। देश रूस में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 60 हजार को पार कर गई है।


सरकारी अधिकारियों के मुताबिक देश में गुरुवार को 4,774 नए मामलों की पुष्टि हुई है, जिससे वायरस से संक्रमित लोगों का आंकड़ा भढ़कर 62,773 हो गया है। इसके अलावा बुधवार को 42 लोगों की मौत के साथ आधिकारिक आंकड़ा बढ़कर 555 पहुंच गया है। बता दें कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए रूस ने अप्रैल के पहले हफ्ते से ही देश में लॉकडाउन घोषित किया हुआ है। इसके तहत अधिकांश क्षेत्रों के निवासियों को घर में ही रहने का आदेश दिया गया है। लोगों को सिर्फ किराने का सामान, दवाइयां खरीदने या कचरा बाहर फंकने के लिए ही घर से बाहर निकलने की अनुमति है।


इटलीः 24 घंटे में 2646 संक्रमित

रोम। इटली में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्‍या में इजाफा हुआ है। पिछले 24 घंटे में जांच में 2,646 रोगियों में कोरोना पाजिटिव पाया गया है। इसमें 40 फीसद मामले लोम्बार्डी क्षेत्र से जुड़े हैं। इस क्षेत्र में दो महीने पूर्व केवल दो महिलाओं में कोरोना की पुष्टि हुई थी। हालांकि, इसे कोरोना के राष्‍ट्रव्‍यापी प्रसार में गिरवाट के रूप में देखा जा रहा है। ऐसे में यह उम्‍मीद की जा रही है कि लंबे समय से चले आ रहे राष्‍ट्रव्‍यापी लॉकडाउन कुछ ढील दी जा सकती है। 


1.4 फीसद की दर कोरोना वायरस के रोगियों में इजाफा 


इटली में कोरोना वायरस के रोगियों में इजाफा 1.4 फीसद की दर से हुई है। हालांकि, इसे कोरोना के राष्‍ट्रव्‍यापी प्रसार में गिरवाट के संकेत के रूप में देखा जा रहा है। इससे यह उम्‍मीद की जा रही है कि देश में राष्‍ट्रव्‍यापी लॉकडाउन को थोड़ा शिथिल किया जा सकता है। आने वाले दिनों में इसकी घोषणा देश के प्रीमियर गिउसेप कॉन्टे कर सकते हैं। इटली में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 25,549 पहुंच गई है। पिछले 24 घंटे में कोरोना महामारी में 464 लोगों की मौत हो चुकी है। इस दौरान 934 लोगों में से 117 लोगों को गहन चिकित्‍सा में रखा गया है। इटली में कोरोना रोगियों की संख्‍या बढ़कर 189,973 के पार पहुंच गई है।


पाकिस्तानः संक्रमितों की संख्या-11 हजार

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 11 हजार के भी पार पहुंच गया है, जिनमें से 79 फीसद मामले स्थानीय संक्रमण के हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक नोवल कोरोना वायरस के कारण 13 अन्य लोगों की मृत्यु हुई है। जिसके बाद मरने वालों का आंकड़ा 237 पर पहुंच गया है और 2,527 लोग अब तक इससे ठीक हो चुके हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि पिछले 24 घंटों में देश में 642 नए मामले सामने आए जिसके बाद संक्रमितों की संख्या 11,155 तक हो गई है।


पंजाब में 4,767, सिंध में 3,671, खैबर-पख्तूनख्वा में 1,541, बलूचिस्तान में 607, गिलगित-बाल्टिस्तान में 300, इस्लामाबाद में 214 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 55 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। देश में अब तक 13,365 परीक्षण किए गए हैं जिनमें से 6,839 टेस्ट पिछले 24 घंटों में किए गए हैं। अधिकारियों का कहना है कि कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है जिसकी मई के अंत तक या जून के शुरूआत तक पहुंचने की आशंका है।


पहली स्टेज में प्लाज्मा थेरेपी कारगर

नई दिल्ली। कोरोना से जूझ रही दिल्ली के लिए अच्छी खबर है। पहले स्टेज में प्लाज्मा थेरेपी कारगर साबित हुई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना के चार मरीजों को मंगलवार को प्लाज्मा दिया गया था। इनमें से दो को जल्द छुट्टी मिल सकती है। बाकी दो मरीजों की सेहत में सुधार हो रहा है। उम्मीद है कि ये लोग जल्द ही रिकवर होंगे।


सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि प्लाज्मा थेरेपी के इस्तेमाल की परमिशन केंद्र सरकार से मिली थी। केंद्र सरकार ने एलएनजेपी के सीरियस मरीजों के ऊपर ही प्लाज्मा थेरेपी ट्राई करने के लिए कहा था और नतीजों की डिटेल मांगी थी। अगर नतीजे ठीक आए तो वो बाकी परमिशन देगी। अगले दो-तीन दिन और हम ट्रायल करेंगे। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि एक बार जब ट्रायल पूरा हो जाएगा, उसके बाद हम पूरी दिल्ली के सीरियस कोरोना मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी देने के लिए केंद्र से परमिशन मांगेंगे। मुझे उम्मीद है कि इजाजत जल्द मिल जाएगी। इसके बाद दिल्ली के सभी अस्पतालों में कोरोना के सीरियस मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी दी जाएगदिल्ली वासियों से बात करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह अभी शुरुआती नतीजे हैं, हम यह न समझें कि कोरोना का इलाज मिल गया। यह नतीजे बहुत उत्साहवर्धक हैं। उम्मीद की किरण नजर आ रही है। इसमें सबसे अहम रोल डोनर का है, जो कोरोना से ठीक हो गया और आकर अपना प्लाज्मा डोनेट करता है.लोगों के अपील करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कई लोगों ने डेंगू के लिए ब्लड दिया होगा। ठीक उसी तरह आपके ब्लड में से प्लाज्मा निकाल लेंगे। डोनर को चिंता करने की जरूरत नहीं है। जो लोग ठीक होकर गए हैं, उन्हें सरकार की ओर से फोन किया जाएगा और उनका प्लाज्मा लिया जाएगा।


अर्नव को 3 हफ्ते की अंतरिम राहत

नई दिल्ली। रिपब्लिक न्यूज चैनल के संपादक अर्नब गोस्वामी के सोनिया गांधी पर टिप्पणी के मामले में सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को सुनवाई हुई। याचिकाकर्ता अर्नब गोस्वामी और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने वालों का पक्ष जानने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अर्नब को तीन हफ्ते की अंतरिम राहत प्रदान करते हुए उनके खिलाफ किसी भी कार्रवाई पर रोक लगाई, तीन हफ्तों के दौरान अर्नब अग्रिम जमानत के लिए याचिका लगा सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई जस्टिस डॉ डीवाय चंद्रचूड़ और जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने की. सुप्रीम कोर्ट ने तमाम पक्षों को सुनने के बाद अर्नब के खिलाफ नागपुर में दर्ज एफआईआर को छोड़कर तमाम राज्यों में दर्ज कराए गए एफआईआर पर रोक लगा दी। नागपुर में दर्ज एफआईआर मुंबई ट्रांसफर कर दिया गया है। इसके अलावा पीठ ने मुंबई पुलिस कमिश्नर को अर्नब गोस्वामी के साथ रिपब्लिक टीवी को सुरक्षा मुहैया कराने निर्देशित किया।


बच्चे की मौत, दंपति ने की आत्महत्या

बलपुर। कोरोना वायरस संक्रमण के बीच गुरुवार की शाम जम्मू कश्मीर रायफल रेजीमेंट में पदस्थ नायब सूबेदार ने अपनी पत्नी के साथ फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। शहर के कैंट थाना स्थित आर्मी परिसर में हुए हादसे का पता चलते ही हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और जांच शूरू कर दी। लोगों के मुताबिक गुरुवार सुबह दंपति के 3 माह के बच्चे की मौत हो गई थी। इसी गम में मां-बाप ने भी जान दे दी।


पुलिस ने बताया कि सूबेदार जितेंद्र अपनी पत्नी सरबजीत सिंह के साथ अपने सरकारी आवास में ही फांसी लगा ली। सुबह ही उनकी 3 साल के बच्चे की मौत हो गई थी। बच्चे की मौत के बाद से ही पति-पत्नी शोक में डूबे थे। दोनो ने सुबह से किसी पड़ोसी से बात भी नही की थी। शाम को जब जितेंद्र से मिलने के लिए उसके साथी घर पहुंचे तो दरवाजा बंद था। काफी देर तक आवाज देने के बाद जब कोई बाहर नही आया तो वरिष्ठ अधिकारियो को इसकी जानकारी दी गई।


जानवरों में तेजी से फैलता वायरस

न्यूयॉर्क। क़ोरोना वायरस अभी तक इंसानों की जान का दुश्मन बना बैठा था लेकिन अब इसने जानवरों को भी अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है। अमेरिका में इसके तेजी से मामले सामने आ रहे हैं।


दरअसल, पूरी दुनिया जहां कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रही है। वहीं हर रोज इस वायरस का नया तांडव सामने आ जाता है। कोरोना वायरस ने इटली और स्पेन के बाद सबसे ज्यादा तबाही अमेरिका में मचा रखी है। अमेरिका में लगातार हजारों की तादाद में नए मामले सामने आ रहे हैं। खास बात ये है कि यहां न केवल इंसान बल्कि कोरोना ने अब पालतू जानवरों को भी अपनी चपेट में लेना शुरु कर दिया है। इससे प्रशासन सकते में आ गया है। दरअसल, अमेरिका के न्यूयॉर्क में दो पालतू बिल्लियां कोरोना वारयस से पॉजिटिव पाई गई हैं। इसके पहले न्यूयार्क के चिड़ियाघर में टाइगर कोरोना वायरस से पीड़ित पाया गया था। अमेरिका में पहला ऐसा केस है, जहां पालतू जानवरों में भी कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया है। अधिकारियों के मुताबिक दोनों पालतू बिल्लियां एक ही परिवार से नहीं है। हालांकि इस बात के सामने आने से लोगों में परेशानी का माहौल है। अब पालतू जानवरों में इसके फैलने से प्रशासन के सामने एक और चुनौती खड़ी हो गई है।


बंदरों पर वैक्सीन का सफल परीक्षण

बीजिंग। पहली बार ऐसा हुआ है कि कोरोना वायरस को लेकर बनाई जा रही कई वैक्सीन ने बंदर को कोरोना के संक्रमण से बचाया है। यह सफलता हासिल की है चीन की एक दवा बनाने वाली कंपनी ने। इस कंपनी ने रीसस मकाउ बंदर यानी सामान्य लाल मुंह वाले बंदरों को वैक्सीन दी थी। उसके बाद जांच की तो पता चला कि इन बंदरों में अब कोरोना वायरस नहीं हो सकता. कंपनी ने 16 अप्रैल से इंसानों पर इस वैक्सीन का ट्रायल शुरू कर दिया है। चीन की राजधानी बीजिंग में मौजूद दवा निर्माता कंपनी साइनोवैक बायोटेक (Sinovac Biotech) ने दावा किया है कि उसने 8 बंदरों को अपनी नई वैक्सीन की अलग-अलग डोज दी थी। तीन हफ्ते बाद उन्होंने बंदरों की वापस जांच की। जांच में जो नतीजे आए, वो हैरतअंगेज थे। बंदरों के फेफड़ों में ट्यूब के जरिए वैक्सीन के रूप में कोरोना वायरस ही डाला गया था। तीन हफ्ते बाद जांच में पता चला कि आठों में से एक भी बंदर को कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं है। 


साइनोवैक के सीनियर डायरेक्टर मेंग विनिंग ने बताया कि जिस बंदर को सबसे ज्यादा डो़ज दी गई थी, सात दिन बाद ही उसके फेफड़ों में या शरीर में कहीं भी कोरोना वायरस के कोई लक्षण या सबूत नहीं दिखाई दे रहे थे। कुछ बंदरों में हल्का सा असर दिखाई दिया लेकिन उन्होंने उसे नियंत्रित कर लिया।


साइनोवैक ने बंदरों पर किए गए परीक्षण के बाद वैक्सीन की रिपोर्ट 19 अप्रैल को bioRxiv वेबसाइट पर प्रकाशित की है। बंदरों पर आए हैरतअंगेज नतीजों के बाद मेंग विनिंग ने कहा कि हमें पूरा भरोसा है कि यह वैक्सीन इंसानों पर भी अच्छा असर करेगी। मेंग विनिंग ने कहा कि हमने पुराना तरीका अपनाया है वैक्सीन को विकसित करने का। पहले कोरोनावायरस से बंदर को संक्रमित किया। फिर उसके खून से वैक्सीन बना लिया। उसे दूसरे बंदर में डाल दिया। इस तरीके से गरीब देशों को महंगी वैक्सीन की जरूरत नहीं पड़ेगी।


माउंट सिनाई में स्थित इकान स्कूल ऑफ मेडिसिन के वायरोलॉजिस्ट फ्लोरियन क्रेमर ने कहा कि मुझे वैक्सीन बनाने का ये तरीका पसंद आया। ये पुराना है लेकिन बेहद कारगर है. वहीं, पिट्सबर्ग यूनिवर्सिटी के डगलस रीड ने कहा कि तरीका अच्छा है लेकिन बंदरों की संख्या कम थी। इसलिए परिणामों पर तब तक पूरा भरोसा नहीं कर सकते जबतक यह बड़े पैमाने पर जांचा नहीं जाता। साइनोवैक के वैज्ञानिकों का कहना है कि सवाल सही उठ रहे हैं लेकिन हमने उन बंदरों को भी कोरोना वायरस से संक्रमित कराया जिन्हें वैक्सीन नहीं दिया गया था। उनके अंदर कोरोना वायरस के संक्रमण के लक्षण स्पष्ट तौर पर दिखाई दिए। साइनोवैक के वैज्ञानिकों ने फिर दावा किया कि हमने अपनी वैक्सीन में बंदर और चूहे के शरीर से ली गई एंटीबॉडीज को मिलाया है। इसके बाद इस वैक्सीन का ट्रायल हमने चीन, इटली, स्विट्जरलैंड, स्पेन और यूके के कोरोना मरीजों पर किया है। वैक्सीन में मौजूद एंटीबॉडीज ने कोरोना वायरस के स्ट्रेन को निष्क्रिय करने में सफलता पाई है।


एंकर अर्णव के खिलाफ 8 एफआईआर

नई दिल्ली। इसी कड़ी में झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यकारी अध्यक्ष सह विधायक डा. इरफान अंसारी ने भी रांची के जगन्नाथपुर थाने में अर्णब के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराया। उन्होंने कहा कि पालघर हमले पर महाराष्ट्र सरकार के स्पष्टीकरण के बाद लगातार रिपब्लिक चैनल द्वारा सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की जा रही है एवं मामले को बढ़ा चढ़ाकर लाइव शो में पेश किया जा रहा है।


कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ जिस प्रकार की आपत्तिजनक एवं अमर्यादित भाषा का उपयोग किया गया, वह सरासर गलत है। इसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। उन्होंने कार्यक्रम की सीडी भी थाने को सौंपी है। इरफान अंसारी ने कहा कि इनकी गिरफ्तारी की जाए। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, एडिटर्स गिल्ड आफ इंडिया और इंडियन प्रेस काउंसिल रिपब्लिक टीवी चैनल पर प्रतिबंध लगाए।


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...