गुरुवार, 24 फ़रवरी 2022

शुभम वाटिका में 'अधिवक्ता' समागम का आयोजन

शुभम वाटिका में 'अधिवक्ता' समागम का आयोजन     

बृजेश केसरवानी        

प्रयागराज। जनपद के पुराने यमुना ब्रिज के पास बने शुभम वाटिका में अधिवक्ता समागम का आयोजन किया गया। इस अधिवक्ता समागम कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बहुजन समाज पार्टी के राज्यसभा सांसद राष्ट्र महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा शामिल हुए। सतीश चंद्र मिश्रा द्वारा अधिवक्ता समागम का कार्यक्रम में आए हुए सभी अधिवक्ताओं को संबोधित कर बहुजन समाज पार्टी की तरफ़ से 263 शहर दक्षिणी विधानसभा सीट के प्रत्याशी देवेंद्र मिश्रा नगरहा के लिए वोट की अपील की।समागम कार्यक्रम में सतीश चंद्र मिश्रा ने सपा,भाजपा व कांग्रेस पर तीखा प्रहार किया। 

मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने बताया विधानसभा 2022 का चुनाव बहुजन समाज पार्टी के लिए कोई चुनौतीपूर्ण चुनाव नहीं है। अन्य पार्टियों के लिए यह चुनाव चुनौतीपूर्ण है। चारों चरण में हुए मतदान के दौरान हर वर्ग के लोगों ने बहुजन समाज पार्टी को वोट दिया है और निश्चित रूप से पूर्ण बहुमत से उत्तर प्रदेश में सरकार बन रही है और पांचवी बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती बनने जा रहीं हैं।

उपमुख्यमंत्री ने अपने पक्ष में मतदान की अपील की

उपमुख्यमंत्री ने अपने पक्ष में मतदान की अपील की      

संतलाल मौर्य         
कौशाम्बी। 251 सिराथू विधानसभा से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने विधानसभा क्षेत्र के दर्जनों स्थानों पर नुक्कड़ सभाओं को संबोधित कर बड़ी संख्या में अपने पक्ष में मतदान करने की अपील की है।
उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य तरसौरा हब्बू नगर, टेढ़ी मोड़ चौराहा, चक बख्तियार, सौरई बुजुर्ग एवं कंथुआ अलीपुर जीता, ग्राम सभा केन पहाड़पुर बरहमपुर घाटमपुर चौराहा नारा आदि स्थानों पर आयोजित नुक्कड़ जनसभा में स्थानीय जनों से जनसंपर्क कर कौशांबी में किए गए विकास कार्यों पर विस्तार से चर्चा की। 
इस दौरान संवाद करते हुए उन्होंने कहा कि मैं सिराथू का नेता नहीं बेटा हूं, सिराथू मेरा परिवार है। आप सभी से कहने आया हूं की सिराथू में हो रहे विकास को रुकने नहीं दूंगा। इसलिए मेरे बड़े बुजुर्ग मत दाता 27 फरवरी को होने वाले मतदान के दिन अपने परिवार के साथ कमल के फूल का बटन दबाकर अधिक से अधिक मतों के अंतर से विजई बनाएंगे। उन्होंने कहा कि ऐसा मुझे विश्वास है। इस दौरान तमाम पार्टी पदाधिकारी कार्यकर्ता आम जनमानस मौजूद रहे।

सीएम खट्टर ने 138 साहित्यकारों को सम्मानित किया

सीएम खट्टर ने 138 साहित्यकारों को सम्मानित किया   

राणा ओबरॉय           
चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि सभी भाषाओं के साहित्यकार समान होते हैं। ऐसे में सरकार द्वारा दी जाने वाली पुरस्कार राशि भी समान होनी चाहिए। हरियाणा की साहित्य अकादमियों को पुरस्कार राशि को लेकर एक समान फॉर्मूला बनाया जाए। अभी तक हरियाणा की चारों साहित्य अकादमियां साहित्य के क्षेत्र में अलग-अलग पुरस्कार राशि दे रही हैं। मुख्यमंत्री गुरुवार को टैगोर थियेटर में हरियाणा साहित्य पर्व के अवसर पर बोल रहे थे। मुख्यमंत्री ने हरियाणा संस्कृत अकादमी और पंजाबी साहित्य अकादमी की वेबसाइट व मोबाइल एप्लीकेशन लॉन्च किए।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर ने संस्कृत, हिंदी, पंजाबी व उर्दू भाषा के 138 साहित्यकारों को सम्मानित किया। यह सम्मान हरियाणा संस्कृत अकादमी, हरियाणा ग्रंथ अकादमी, हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी, हरियाणा उर्दू अकादमी के अंतर्गत दिए गए। 
मुख्यमंत्री चारों अकादमियों के अध्यक्ष हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा साहित्यकारों की भूमि रही है, यहां बाबू बालमुकंद गुप्त, हाली पानीपती, दादा लख्मीचंद और बाबा फरीद जैसे साहित्यकार जन्में हैं। इन साहित्यकारों की जन्मभूमि पर साहित्य की दृष्टि से काम करने की जरुरत है। इसी कड़ी में बाबू बालमुकंद गुप्त के पैतृक गांव रेवाड़ी के गुड़ियानी में उनकी हवेली पर एक सरकारी ई-लाइब्रेरी बनाई जाएगी। इससे युवाओं को साहित्य पढ़ने का मौका मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि साहित्यकार होना अपने आप में सम्मान है। हरियाणा सरकार द्वारा दिए जाने वाले साहित्य सम्मान कोरोना की वजह से नहीं दिए जा सके थे। इस वर्ष साहित्य पर्व मनाकर यह सम्मान दिए गए हैं। साहित्य व संगीत का हर जीवन में महत्व है। हरियाणा में वैदिक मनिषियों ने वेदों, उपनिषदों, गीता और महाभारत की रचना की थी। हमारा साहित्य पुरातन है। साहित्य को मन से स्मरण करना चाहिए, वाणी से बोलना चाहिए।
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि देश की आजादी में अलग-अलग वर्ग के बहुत से लोगों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई लेकिन साहित्यकारो, कवियों, लेखकों, रचनाकारों व पत्रकारों ने समाज को जागरूक करने में अहम योगदान दिया। इससे देशभक्ति आंदोलन को बल मिला और राष्ट्रप्रेम व जनजागरण की भावना आई। मुख्यमंत्री ने नेपोलियन बोनापार्ट का उदाहरण देते हुए कहा कि दो ही ताकतें हैं या तो तलवार की या फिर कलम की।
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि आज इंटरनेट के दौर में युवाओं की साहित्य के प्रति रूचि कम हो रही है, उन्हें जागरूक करने की आवश्यकता है। साहित्य अकादमियों के माध्यम से गांव-गांव जाकर लोगों को प्रेरित किया जा रहा है। साहित्य के क्षेत्र में योगदान कम न हो इसलिए सभी साहित्य अकादमियां महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। उन्होंने कहा कि साहित्यकार और साहित्य देश व समाज की सीमाओं में नहीं बंधे होते। वे कहीं भी अपने साहित्य से समाज को जागरूक कर सकते हैं। साहित्य में कही गई बात कई बार लोगों का पूरा जीवन सुधार देती है। संतों की वाणी सुनकर बुराई से ग्रसित लोगों के जीवन में भी बदलाव आ जाता है।
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार साहित्य के सृजन को बढ़ावा दे रही है। अकादमियों द्वारा पुस्तकों के प्रकाशन के लिए अनुदान दिया जा रहा है। इसके अलावा अच्छी रचनाओं को पाठ्यक्रमों में भी शामिल किया जाता है। उन्होंने साहित्यकारों का आह्वान करते हुए कहा कि साहित्य की लौ धीमी नहीं होनी चाहिए। ज्ञान, शब्दकोष, रचनाओं से समाज में जनजागरण करें और राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाएं।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ. अमित अग्रवाल ने कहा कि राज्य की सभी अकादमी उत्कृष्ट काम कर रही हैं। समाज के लिए प्रकाश स्तम्भ का काम करने वाले साहित्यकारों को सम्मानित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि साहित्यकारों के प्रति मुख्यमंत्री का अगाध प्रेम है। मुख्यमंत्री ने हरियाणा साहित्य पर्व के सफल आयोजन पर डॉ. अमित अग्रवाल व हरियाणा उर्दू अकादमी के उपाध्यक्ष डॉ. चंद्र त्रिखा को बधाई दी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री वी उमाशंकर, हरियाणा संस्कृत अकादमी के उपाध्यक्ष डॉ. दिनेश शास्त्री, हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष डॉ. वीरेंद्र चौहान, हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी के उपाध्यक्ष श्री गुरविंदर सिंह धमीजा व प्रदेशभर से आए सभी साहित्यकार, उनके परिजन व वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।
आजीवन साहित्य साधना सम्मान वर्ष 2017 के लिए डॉ. कमल कशोर गोयनका व वर्ष 2018 के लिए डॉ. सुरेश गौतम, 2019 के लिए श्री माधव कौशिक और 2020 के लिए श्री ज्ञानप्रकाश विवेक को 7-7 लाख रुपये की पुरस्कार राशि व प्रशस्ति पत्र दिया गया। फख्रे हरियाणा सम्मान वर्ष 2019 के लिए डॉ. हिम्मत सिंह सिन्हां नाजिम, वर्ष 2020 के लिए डॉ. कुमार पानीपती को 5-5 लाख रुपये की राशि व प्रशस्ति पत्र दिया गया। इसी प्रकार महाकवि सूरदास आजीवन साहित्य सम्मान वर्ष 2017 के लिए डॉ. पूर्ण चंद शर्मा, 2018 के लिए श्री मधुकांत, डॉ. संतराम देशवाल, वर्ष 2019 के लिए डॉ. सुदर्शन रत्नाकर व श्रीमति चंद्रकांता, वर्ष 2020 के लिए डॉ. सुभाष रस्तोगी को 5-5 लाख रुपये की राशि व प्रशस्ति पत्र दिए गए। इसके अलावा अलग-अलग श्रेणियों में कुल 138 साहित्यकार सम्मानित हुए।

गाजियाबाद को 'स्वच्छ' बनाने के लिए प्रोजेक्ट शुरू

गाजियाबाद को 'स्वच्छ' बनाने के लिए प्रोजेक्ट शुरू    

अश्वनी उपाध्याय        
गाज़ियाबाद। जिला नगर निगम इन दिनों गाजियाबाद को स्वच्छ एवं सुंदर बनाने के लिए कई नए प्रोजेक्ट शुरू कर रहा है। इसके साथ ही लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए आए दिन नई-नई योजनाओं पर भी काम हो रहा है। इसके लिए शहर के प्रमुख चौराहों पर 6 तरह की योजनाएं थेला बैंक, ई-बैंक, बर्तन बैंक, नेकी की दीवार, बुक बैंक, प्लास्टिक लाओ एवं खाद ले जाओ को स्थापित किया गया है। इन योजनाओं से जहां शहर गंदगी मुक्त होगा वहीं प्लास्टिक मुक्त भी होगा।

अकसर लोग प्लास्टिक के बेकार सामान को घर से बाहर इधर-उधर फेंक देते है। जिसके बाद कबाड़ी इसे उठा कर ले जाते हैं। इसका असर पर्यावरण तो पड़ता ही है, खुले में घूमने वाले पशु इनका शिकार हो जाते है। लेकिन नगर निगम ने इन बेकार वस्तुओं का उपयोग कर उसका सदपयोग करने में सफलता हासिल की है। स्वच्छ भारत मिशन प्रभारी डॉ मिथिलेश कुमार ने बताया कि नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर के निर्देशानुसार शहर को कचरा मुक्त बनाने के लिए कई योजनाएं वृहत स्तर पर शहर में चलाई जा रही हैं। बर्तन बैंक के माध्यम से शहर वासियों से अपील की जा रही है कि अपने परिवार एवं समाज में होने वाले कार्यक्रमों में डिस्पोजल के स्थान पर नगर निगम द्वारा स्थापित बर्तन बैंक के बर्तन का प्रयोग करें एवं अपने कार्यक्रम को पर्यावरण के अनुकूल बनाएं। थैला बैंक स्थापित करने के उद्देश्य से लोगों से अपील की जा रही है कि वह प्लास्टिक का उपयोग बंद करें एवं कपड़े से बने थैले का प्रयोग करें।

उन्होंने बताया कि नेकी की दीवार स्थापित करने के उद्देश्य से शहर वासियों से अपील की जा रही है कि आपके पास जो भी जरूरत का सामान है। आवश्यकता से अधिक है या फिर आपके लिए कोई वस्तु अनुपयोगी हो गया है। जैसे कपड़े, बच्चों के खिलौने, किताबें, जूते चप्पल, व अन्य आवश्यक सामग्री वह नेकी की दीवार पर आकर रख जाइए आपको जो चाहिए वहां से ले जाए। इसी तरह प्लास्टिक लाओ खाद ले जाओ, ई- बैंक, बुक बैंक स्थापित किए गये। जो कि शहर के पांचो जोनों में चलाए जा रहे हैं। जिससे ना केवल शहर निवासियों को लाभ प्राप्त हो रहा है। बल्कि शहर को स्वच्छ बनाने में भी शहर वासियों का काफी सहयोग भी नगर निगम को मिल रहा है। आरडब्ल्यूए पदाधिकारी, पार्षद तथा क्षेत्रीय निवासियों का विशेष सहयोग उक्त योजनाओं में मिल रहा है। डॉ. मिथिलेश कुमार ने बताया कि गुरूवार को सिटी जोन में बाल्मीकि पार्क, पटेल नगर, बस स्टैंड, कालका गढ़ी चोक एवं नेहरू नगर में लगाया गया है। सभी जोन में इसी तरह पांच केन्द्र स्थापित किये जाएंगे। ताकि क्षेत्र के लोगों को इसका लाभ मिल सकें।

सुनने की क्षमता को ठीक करने में मददगार 'योगासन'

सुनने की क्षमता को ठीक करने में मददगार 'योगासन'   

सरस्वती उपाध्याय         

ध्वनि प्रदूषण, हेडफोन का लगातार इस्तेमाल करने और गलत तरीके से कान की सफाई करने आदि के कारण कानों से सुनाई देना काफी कम हो जाता है। खासकर, अगर आप हेडफोन का इस्तेमाल करते समय गाने की आवाज तेज रखते हैं तो इससे कानों की सुनने की क्षमता स्थाई रूप से कम हो सकती है। आइए आज हम आपको कुछ ऐसे योगासनों के अभ्यास का तरीका बताते हैं। जो सुनने की क्षमता को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। 

अधोमुख श्वानासन: अधोमुख श्वानासन के लिए सबसे पहले योगा मैट पर वज्रासन की मुद्रा में बैठें। अब सामने की तरफ झुककर अपने हाथों को जमीन पर रखें और गहरी सांस लेते हुए कमर को ऊपर उठाएं। इस दौरान घुटनों को सीधा करके सामान्य रूप से सांस लेते रहें। इस योगासन में शरीर का पूरा भार हाथों और पैरों पर होना चाहिए और शरीर का आकार ' वी' जैसा नजर आना चाहिए। कुछ मिनट इसी अवस्था में रहने के बाद धीरे-धीरे सामान्य हो जाएं। 

मत्स्यासन: मत्स्यासन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले योग मैट पर पद्मासन की मुद्रा में बैठ जाएं। अब अपनी पीठ की दिशा में झुकें और अपने सिर को जमीन से सटाने की कोशिश करें। इसके बाद अपने पैरों की उंगलियों को पकड़ें और जितना संभव हो सके उतनी देर इसी मुद्रा में रूकने की कोशिश करें। कुछ मिनट तक ऐसे ही रहने के बाद धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आ जाएं। 

भुजंगासन: भुजंगासन के अभ्यास के लिए सबसे पहले योगा मैट पर अपने हाथों को अपने कंधों के नीचे रखकर पेट के बल लेट जाएं। अब अपने हाथों से दबाव देते हुए अपने शरीर को जहां तक संभव हो सके, ऊपर उठाने की कोशिश करें। इस दौरान सामान्य तरीके से सांस लेते रहें। कुछ देर इसी मुद्रा में बने रहें और फिर धीरे-धीरे सामान्य हो जाएं। कुछ देर बाद इस योगासन को फिर से दोहराएं। 

विपरीतकरणी आसन: विपरीतकरणी आसन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले योगा मैट पर सीधे पीठ के बल लेट जाएं। अब अपने पैरों को धीरे-धीरे ऊपर की तरफ उठा कर 90 डिग्री का कोण बना लें। ध्यान रखें कि आपके तलवे ऊपर की ओर होने चाहिए। इसके बाद अपने नितंब को ऊपर उठाने की कोशिश करें। इस मुद्रा में कम से कम दो-तीन मिनट तक रहने के बाद धीरे-धीरे सामान्य हो जाएं। इसके बाद दोबारा इस योगासन का अभ्यास करें। 

कप्तानी छोड़ने की वजह, स्वयं के लिए समय चाहिए

कप्तानी छोड़ने की वजह, स्वयं के लिए समय चाहिए    

मोमीन मलिक        

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग 2022 से पहले विराट कोहली ने बताया है कि उन्होंने आईपीएल 2021 के बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की कप्तानी क्यों छोड़ी थी। आरसीबी के पोडकास्ट में बात करते हुए, विराट कोहली ने कहा है कि उन्होंने स्वयं के लिए कुछ समय निकालने और वर्कलोड मैनेजसमेंट के कारण यह फैसला किया था।

वहीं, विराट कोहली ने पिछले साल टी20 विश्व कप से पहले कहा था कि यह सबसे छोटे फॉर्मेट में भारत के कप्तान के रूप में उनका आखिरी टूर्नामेंट होगा। इसके बाद उन्होंने आईपीएल टीम आरसीबी की कप्तानी छोड़ने की भी घोषणा कर दी थी। इसके बाद उन्हें वनडे टीम की कप्तानी से हटा दिया गया और फिर उन्होंने टेस्ट टीम की कप्तानी भी छोड़ दी थी।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 14,148 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 14,148 नए मामलें     

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। देश में जानलेवा कोरोना वायरस महामारी के मामलों में गुरुवार को मामूली गिरावट दर्ज की गई है। देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 14 हजार 148 नए मामलें सामने आए हैं और 302 लोगों की मौत  हो गई। कल 15 हजार 102 मामले दर्ज किए गए थे। यानी कल की तुलना में आज मामले घटे हैं। देश में पिछले दिन 30 हजार 9 लोग ठीक हुए हैं। जानिए देश में कोरोना की ताजा स्थिति क्या है ?

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब एक्टिव मामलों की संख्या घटकर 1 लाख 48 हजार 359 हो गई है। वहीं, इस महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 5 लाख 12 हजार 924 हो गई है। आंकड़ों के मुताबिक, अभी तक 4 करोड़ 22 लाख 19 हजार 896 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। दिल्ली में बुधवार को कोरोना वायरस के 766 नए मरीजों की पुष्टि हुई और पांच संक्रमितों ने दम तोड़ दिया। राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण दर आंशिक रूप से घटकर 1.37 फीसदी रह गई है। दिल्ली में कोविड के कुल मामले बढ़कर 18,53,428 हो गए हैं जबकि 26,086 लोगों की जान जा चुकी है। जो महामारी की मौजूदा लहर में सबसे ज्यादा है।

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण मुहिम के तहत अभी तक कोरोना वायरस रोधी टीकों की करीब 176 करोड़ से खुराक दी जा चुकी हैं। कल 30 लाख 49 हजार 988 डोज़ दी गईं, जिसके बाद अबतक वैक्सीन की 176 करोड़ 52 लाख 31 हजार 385 डोज़ दी जा चुकी है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, स्वास्थ्यकर्मियों, कोरोना योद्धाओं और 60 साल से ज्यादा आयु वाले अन्य बीमारियों से ग्रस्त लोगों को 1.94 करोड़ से ज्यादा (1,94,97,567) एहतियाती टीके लगाए गए हैं। देश में कोविड रोधी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 से शुरू हुआ और पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया। वहीं, कोरोना योद्धाओं के लिए टीकाकरण अभियान दो फरवरी से शुरू हुआ था।

3 साल पहले 'हार्टअटैक' के जोखिम का पता लगेगा

3 साल पहले 'हार्टअटैक' के जोखिम का पता लगेगा     

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। दिल की बीमारियों का शिकार अब ना सिर्फ बुजुर्ग, बल्कि युवा पीढ़ी के लोग भी तेजी से हो रहे हैं। हार्ट अटैक के बढ़ते मामले खुद इस बात का सबूत है। हालांकि, वैज्ञानिकों ने अब एक ऐसा टेस्ट खोज निकाला है। जिसकी मदद से लगभग तीन साल पहले ही हार्ट अटैक के जोखिम का पता लगाया जा सकता है। इससे हार्ट अटैक से होने वाली मौतों का खतरा काफी हद तक कम हो सकेगा। इसके लिए वैज्ञानिकों ने हार्ट अटैक के पूर्व पीड़ितों के सी-रिएक्टिव प्रोटीन की जांच की है। यानी एक ऐसा संकेत जो इंफ्लेमेशन के बारे में बताता है। उन्होंने ट्रोपोनिन का भी स्टैंडर्ड टेस्ट किया। ये वो प्रोटीन है जो हार्ट डैमेज होने पर खून में से निकलता है। रिपोर्ट बताती है कि एनएचएस के करीब ढाई लाख रोगियों में जिनका सीआरपी लेवल बढ़ा हुआ था और ट्रोपोनिन टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए थे, उनमें तीन वर्ष में मौत की संभावना करीब 35 प्रतिशत थी।

वैज्ञानिकों की इस खोज से सही समय पर मॉनिटरिंग और एंटी-इंफ्लेमेटरीज़ दवाओं की सलाह देकर लाखों लोगों की जान बचाई जा सकती है। इंपीरियल कॉलेज ऑफ लंदन के डॉ. रमजी खमीज ने बताया कि इस टेस्ट की खोज ऐसे समय पर हुई है। जब अन्य टेस्ट से ज्यादा कमजोर लोगों में इसके खतरे की पहचान की जा रही है।
इस स्टडी के लिए फंड जारी करने वाले ब्रिटिश हार्ट फाउंडेशन के प्रोफेसर जेम्स लीपर ने कहा, 'यह डॉक्टर्स की मेडिकल किट में शामिल होने वाला एक बेशकीमती टूल है। एक स्टडी में पाया गया है कि दिन में करीब चार घंटे एक्टिव रहने से हार्ट डिसीज का खतरा 43 प्रतिशत तक कम हो जाता है।
सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन ने हार्ट अटैक के बहुत सारे लक्षण बताए हैं। इसमें छाती में दर्द और या बेचैनी सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। कमजोरी, जबड़े, गले या कमर में दर्द होना भी इसके प्रमुख लक्षणों में शामिल है। इसके अलावा, दोनों हाथ या कंधों में दर्द या बेचैनी के लक्षण से भी हार्ट अटैक को पहचाना जा सकता है। सांस में तकलीफ भी हार्ट अटैक का संकेत हो सकता है।

180 किलो के बारबेल के नीचे दबीं महिला, मौंत

180 किलो के बारबेल के नीचे दबीं महिला, मौंत   

अखिलेश पांडेय       

मैक्सिको सिटी। जिम में वर्कआउट करते समय बेहद सावधानी बरतनी चाहिए, नहीं तो जान से भी हाथ धोना पड़ सकता है। एक महिला के साथ कुछ ऐसा ही हुआ। महिला जिम में हादसे का शिकार हो गई। दरअसल, मैक्सिको में रहने वाली एक महिला जिम में वर्कआउट करने गई थी। महिला यहां जोश-जोश में ज्यादा वजन उठाने लगी, जिसके चलते दर्दनाक हादसा हो गया। 180 किलो के वजनदार बारबेल के नीचे दबकर उसने दम तोड़ दिया। ये हादसा उसकी बेटी के सामने हुआ। फिलहाल, महिला के नाम का खुलासा नहीं किया गया है। लेकिन ये जरूर बताया गया कि महिला की उम्र 35 से 40 के बीच में थी। 

रिपोर्ट के मुताबिक, महिला अपनी बेटी के साथ फिटनेस सेंटर यानी जिम गई थी। जिम में उसने 180 किलो वजन उठाने का प्रयास किया, लेकिन अगले ही पल वो नीचे गिर पड़ी। जैसे ही महिला नीचे गिरी 180 किलो का बारबेल सीधे उसकी गर्दन पर आ गिरा। जिससे उसकी गर्दन दब गई। इसके चंद सेकेंड बाद महिला ने दम तोड़ दिया।

उछाल: 10 ग्राम सोने की कीमत, 1400 रुपये बढ़ीं

उछाल: 10 ग्राम सोने की कीमत, 1400 रुपये बढ़ीं    

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। रूस और यूक्रेन संकट के बीच गुरुवार को सोने-चांदी के दामों में बड़ा उछाल आया है। भारत में 10 ग्राम सोने की कीमत तकरीबन 1400 रुपये बढ़ गई है। वहीं, एक किलो चांदी की कीमत भी दो हजार रुपये से अधिक बढ़ी है। भारतीय सर्राफा बाजार में जारी किए गए सोने-चांदी के रेट्स के अनुसार, 999 प्योरिटी वाला 10 ग्राम सोना 51419 रुपये का हो गया है। जबकि एक किलो चांदी के दाम बढ़कर 66501 रुपये हो गई है।

सोने-चांदी के दाम दिन में दो बार जारी किए जाते हैं। एक सुबह और दूसरी बार शाम को। रिपोर्ट के अनुसार, गुरुवार को 995 प्योरिटी वाला 10 ग्राम गोल्ड महंगा होकर 51213 रुपये का हो गया है। वहीं, 916 शुद्धता का सोना 47100 रुपये में हो गया है। वहीं, 750 प्योरिटी वाले सोने के दाम में भी बड़ा इजाफा हुआ है. आज इसकी कीमत 38564 रुपये प्रति दस ग्राम हो गई है। 585 शुद्धता का सोना भी बढ़कर 30080 रुपये में बिक रहा है। 999 प्योरिटी वाली चांदी की कीमत भी बढ़कर 66501 प्रति किलो हो गई है।

तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कियें

तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कियें   

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। सरकारी तेल कंपनियों ने गुरुवार को पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कर दिए हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में रिकॉर्ड उछाल के बाद भी तेल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गुरुवार को भी पेट्रोल और डीजल का रेट स्थिर बना हुआ है। दिल्ली में आज एक लीटर पेट्रोल 95.41 और डीजल 86.67 रुपये में बिक रहा है।

पिछले साढ़े तीन महीनों से ज्यादा समय से देशभर में पेट्रोल-डीजल के रेट्स नहीं बढ़े हैं। मुंबई में पेट्रोल की कीमत 109.98 रुपये प्रति लीटर और डीजल 94.14 रुपये प्रति लीटर पर बनी हुई है। वहीं, कोलकाता में 104.67 रुपये में पेट्रोल एंव 89.79 रुपये में डीजल मिल रहा है। इसके अलावा, एक अन्य महानगर चेन्नई में भी तेल के दाम स्थिर बने हुए हैं। यहां 101.40 रुपये में पेट्रोल व 91.43 रुपये में डीजल बिक रहा है।

रूस के साथ राजनयिक संबंध तोड़ने का ऐलान किया

रूस के साथ राजनयिक संबंध तोड़ने का ऐलान किया   

अखिलेश पांडेय    

कीव/ मास्को। यूक्रेन ने रूस के साथ राजनयिक संबंध तोड़ने का ऐलान कर दिया है। यूक्रेन ने यह कदम रूस की ओर से हमले के बाद उठाया है। न्यूज एजेंसी एएफपी ने यूक्रेन के राष्ट्रपति ब्लोदीमिर जेलेनस्की के हवाले से यह बात कही है। इस हमले की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निंदा और प्रतिबंधों को नजरंदाज करते हुए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अन्य देशों को चेतावनी दी कि रूसी कार्रवाई में किसी प्रकार के हस्तक्षेप के प्रयास के ऐसे परिणाम होंगे, जो उन्होंने पहले कभी नहीं देखे होंगे।

गुरुवार अल-सुबह कीव, खार्कीव, ओडेसा एवं यूक्रेन के अन्य शहरों में बड़े धमाकों की आवाज सुनी गई। वहीं, दुनिया के कई देशों के नेताओं ने रूसी आक्रमण की निंदा की जिससे बड़ी संख्या में जानमाल का नुकसान हो सकता है और यह (हमला) यूक्रेन की निर्वाचित सरकार को अपदस्थ कर सकता है। वहीं, रूस के सैन्य हमले शुरू करने पर, यूक्रेन के राष्ट्रपति ब्लोदीमिर जेलेनस्की ने देश में ‘मार्शल लॉ’ की घोषणा की और नागरिकों से नहीं घबराने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि रूस ने यूक्रेन के सैन्य आधारभूत ढांचे को निशाना बनाया है और देशभर में धमाके सुने गए हैं।

इस बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि नए प्रतिबंध रूस को उसके आक्रमण के लिये दंडित करने के लिए हैं और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इसकी कई सप्ताह से आशंका थी लेकिन कूटनीति के माध्यम से इसे रोका नहीं जा सका। इससे पहले, रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने टेलीविजन पर अपने संबोधन में इस कार्रवाई को जायज ठहराया।

यूक्रेन पर रूस की कार्रवाई को अनुचित हमला करार

यूक्रेन पर रूस की कार्रवाई को अनुचित हमला करार   

सुनील श्रीवास्तव      

कीव/मास्को/ब्रुसेल्स। नाटो ने चेतावनी भरे लहजे में कहा है कि रूस को अपनी सैन्य कार्रवाई रोकते हुए फौरन यूक्रेन से हट जाना चाहिए। रूस को अंतर्राष्ट्रीय नियमों को सम्मान करना चाहिए। रूस की नीयत दुनिया देख रही है। वो यूक्रेन पर अपनी ताकत का इस्तेमाल कर रहा है। नाटो महासचिव जेन्स स्टोल्टेनबर्ग ने यूक्रेन पर रूस की कार्रवाई को अकारण और अनुचित हमला करार दिया। उत्तरी अटलांटिक परिषद की एक असाधारण बैठक के बाद ब्रुसेल्स (बेल्जियम ) स्थित नाटो मुख्यालय में मीडिया को स्टोल्टेनबर्ग ने कहा, "हम रूस से अपनी सैन्य कार्रवाई को तुरंत रोकने और यूक्रेन सहित उसके आसपास से अपने सभी बलों को वापस लेने को कहते हैं। 

नाटो महासचिव ने रूस से अंतर्राष्ट्रीय मानवीय कानूनों का पूरी तरह से सम्मान करने और सभी जरूरतमंद लोगों को सुरक्षित रखने और उन तक जरूरी सहायता की अनुमति देने का आह्वान किया।

रूस ने अमेरिका को उसकी औकात बताईं, प्रतिबंध

रूस ने अमेरिका को उसकी औकात बताईं, प्रतिबंध    

अखिलेश पांडेय     

कीव/मास्को/वाशिंगटन डीसी। रूस पूरी तरह से यूक्रेन के खिलाफ युद्ध का एलान कर चुका है। अब आगे क्या होगा। ये एक ऐसा सवाल है ? जिसका जवाब जानने के लिए हर कोई उत्सुक है। ऐसा इसलिए भी है, क्योंकि इस लड़ाई का कोई एक पक्ष नहीं है। इसमें जहां अमेरिका को फैसला लेना है। वहीं भारत को भी फैसला करना होगा। इसके अलावा दूसरे देशों को भी ऐसा ही निर्णय लेना होगा। एक और सवाल यहां पर बेहद खास है और वो ये कि कहीं ये तीसरे विश्व युद्ध की आहट तो नहीं है। ये सभी सवाल एक-दूसरे से काफी हद तक जुड़े हुए हैं। इसलिए इनका जवाब तलाशना भी बेहद जरूरी है।विदेश मामलों के जानकार और जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पुष्पेश पंत का मानना है कि रूस ने अपना आक्रामक रूप दिखाकर न सिर्फ पश्चिम देशों को बल्कि समूचे यूरोप और खुद को दुनिया की महाशक्ति बताने वाले अमेरिका को उसकी औकात बता दी है। यूक्रेन पर रूस द्वारा हमला करने के बाद भले ही अमेरिका और दूसरे पश्चिमी देशों ने उस पर प्रतिबंध लगा दिए हैं। लेकिन इससे कुछ होने वाला नहीं है। इससे केवल उनको ही नुकसान होने वाला है। अमेरिका के पास इससे अधिक कोई दूसरा विकल्‍प है भी नहीं।

प्रोफेसर पंत का ये भी कहना है कि रूस और यूक्रेन के बीच हालात भले ही कैसे भी दिखाई दे रहे हो लेकिन ये विश्‍व युद्ध में तब्‍दील नहीं होने वाला है। यूरोप में फ्रांस और जर्मनी दो बड़ी अर्थव्‍यवस्‍थाएं हैं। रूस की नार्ड स्‍ट्रीम 2 पाइप लाइन को रोककर भी कुछ नहीं होने वाला है। हालांकि ये सही है कि इस पर रूस ने अरबों डालर का निवेश किया है। लेकिन दूसरी तरफ ये भी सच्‍चाई है कि रूस मौजूदा समय में यूक्रेन पर अघोषित रूप से कब्‍जा कर चुका है। ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी के नेताओं से राष्‍ट्रपति पुतिन ने जो आमने सामने की बैठक में कहा उससे भी उनकी मंशा बेहद साफ हो गई है।

पंत का यहां तक कहना है कि यूक्रेन को आज नहीं तो कल रूस के आगे आत्‍मसमर्पण करना ही होगा। इसके बाद ही रूस की तरफ से हो रही कार्रवाई को रोका जा सकेगा। यूक्रेन जिस गलतफहमी में है वो भी जल्‍द ही दूर हो जाएगी। अमेरिका उसका लड़ाई के फ्रंट पर कोई साथ नहीं दे सकेगा। वहीं यूरोप के बड़े देश इससे अलग ही रहेंगे और छोटे देश रूस का सामना कर सकें, उनमें इतना सामर्थ्‍य नहीं है। इस पूरे घटनाक्रम में एक बात को समझना बेहद जरूरी है कि अमेरिका का पूरा कारोबार और दूसरे हित जैसे कनाडा और मैक्सिको से जुड़े हैं वहीं यूरोप के रूस के साथ जुड़े हुए हैं। यूरोप के बड़े देश अब ये जान चुके हैं कि अमेरिका ने पहले उन्‍हें अफगानिस्‍तान में बेवकूफ बनाया था और अब रूस के खिलाफ भी वो ऐसा ही कर रहा है। इसलिए इस बार अमेरिका की कोई दाल यहां पर नहीं गलेगी। रूस का अपनी कार्रवाई के पीछे केवल इतना ही मकसद है कि यूक्रेन आत्‍मसमर्पण कर दे। ऐसा होने पर रूस उसको एक आजाद राष्‍ट्र के तौर पर मान्‍यता देता रहेगा। यदि ऐसा नहीं हुआ तो यूक्रेन रूस में मिला लिया जाएगा, जिसकी काफी संभावना है।

9 साल का नाइजीरियाई बच्चा, अरबपति बना

9 साल का नाइजीरियाई बच्चा, अरबपति बना     

अखिलेश पांडेय     

अबूजा। 9 साल की उम्र में, हममें से ज्यादातर लोगों को शायद इतना भी नहीं पता होगा कि एक अरब कितना होता है। लेकिन सभी जीवन एक जैसा नहीं होता। एक 9 साल का नाइजीरियाई बच्चा, जिसे उसकी लैविश लाइफस्टाइल के कारण ‘दुनिया का सबसे कम उम्र का अरबपति’ कहा जा रहा है। मोहम्मद अवल मुस्तफा उर्फ मोम्फा जूनियर, रिची रिच लाइफ जी रहे हैं। क्योंकि उनके पास छह साल की उम्र में अपनी पहली हवेली थी। ‘द सन’ की रिपोर्ट के अनुसार, मोम्फा एक निजी जेट में भी दुनिया की यात्रा करता है, उसकी कई अन्य हवेली हैं और पहले से ही सुपरकारों का एक पूरा बेड़ा मौजूद है। नाइजीरिया के लागोस के रहने वाले मोम्फा जूनियर , अरबपति नाइजीरियाई इंटरनेट सेलिब्रिटी इस्माइलिया मुस्तफा, मोहम्मद अवल मुस्तफा के बेटे हैं।

युवा प्रभावशाली शख्स मोम्फा के अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर 45,200 से ज्यादा फॉलोअर्स हैं, जहां वह अपनी भव्य जीवन शैली की तस्वीरें पोस्ट करते हैं। इस लड़के को वर्साचे और गुच्ची जैसे ब्रांडों सहित स्टाइलिश और डिजाइनर कपड़े पहने हुए देखा जा सकता है, जबकि वह अपनी सुपरकारों के बगल में खड़ा है। एक अन्य तस्वीर में वह एक निजी जेट के अंदर भोजन करते हुए दिखाई दे रहे हैं। यह युवा अरबपति अपनी छोटी बहन के साथ अपने पिता के इंस्टाग्राम पर रोजाना दिखाई देता है। अपनी कारों के कलेक्शन को शोकेसिंग करते हुए, मोम्फा जूनियर की कुछ तस्वीरों को कैप्शन दिया गया। ‘हैप्पी बर्थडे टू मी’ और ‘थैंक्स डैडी। उनके सुपरकारों के कलेक्शन में एक पीले रंग की फरारी, बेंटले फ्लाइंग स्पर और रोल्स-रॉयस व्रेथ भी शामिल है। द सन की एक रिपोर्ट के अनुसार, मोम्फा सीनियर ने 2018 में मोम्फा जूनियर के लिए उसके छठे जन्मदिन पर पहली हवेली खरीदकर गिफ्ट की।

4 चरणों की वोटिंग, नेताओं ने पूरी ताकत झोंकी

4 चरणों की वोटिंग, नेताओं ने पूरी ताकत झोंकी    

संदीप मिश्र         

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रचार अभियान अब चरम पर है। चार चरणों की वोटिंग के बाद बचे हुए तीन फेज के लिए सभी दलों और नेताओं ने पूरी ताकत झोंक दी है। एक तरफ जहां विरोधी दलों के नेता एक दूसरे के लिए बेहद तीखे और चुभने वाले शब्दों का इस्तेमाल कर रहे हैं तो इस बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के पूर्व अध्यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह की ओर से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की तारीफ ने सबको चौंका दिया। पिछले कुछ सालों में अपने कई दांव और कठिन हालात में चौंकाने वाले नतीजे लाने की वजह से बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले शाह ने आखिर विरोधी दल को मजबूत क्यों बताया? आखिर इसके पीछे उनका क्या गेम प्लान हो सकता है? आइए समझने की कोशिश करते हैं। अमित शाह के बयान के मायने तलाशने से पहले आइए एक बार फिर आपको याद दिला दें कि उन्होंने कहा क्या है। एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में अमित शाह ने एक सवाल के जवाब में कहा, “बसपा ने अपनी प्रासंगिकता बनाए रखी है।

मुझे विश्वास है कि उन्हें वोट मिलेगा। मुझे नहीं पता कि यह कितनी सीटों में तब्दील होगा लेकिन बसपा को वोट मिलेगा।” शाह ने कहा कि मायावती की जमीन पर अपनी पकड़ है। जाटव वोटबैंक मायावती के साथ जाएगा। मुस्लिम वोट भी बड़ी मात्रा में मायावती के साथ जाएगा। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि अमित शाह ने यूं ही बसपा को मजबूत नहीं बताया, बल्कि इसके पीछे एक बड़ा गेमप्लान है। दरअसल, यूपी चुनाव में कहने को तो चार राष्ट्रीय और कई क्षेत्रीय दल दावेदारी पेश कर रहे हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला भाजपा और सपा के बीच ही माना जा रहा है। ऐसे में बीजेपी की कोशिश है कि मुकाबला त्रिकोणीय दिखे, ताकि भाजपा विरोधी दलों का बंटवारा हो सके। यह माना जा रहा है कि बसपा और कांग्रेस को कमजोर आंकते हुए अधिकांश मुस्लिम वोटर्स सपा की ओर जा रहे हैं। यही वजह है कि अमित शाह ने बसपा को मजबूत बताते हुए यह भी कहा कि मुस्लिम वोट भी बसपा को मिल रहा है। यही हाल जाटव वोटर्स का भी है। जाटव को बसपा का कोर वोटर माना जाता है, इस बार मायावती के मुकाबले में नहीं दिखने की वजह से जाटव मतदाता भी नया ठिकाना तलाश सकते हैं। ऐसे में बीजेपी को आशंका है कि यदि इन्होंने सपा की ओर रुख किया तो नुकसान उठाना पड़ सकता है।

वरिष्ठ पत्रकार सतीश के सिंह कहते हैं, ”मुझे लगता है कि बीजेपी को अहसास है कि यूपी में बाइपोलर चुनाव होने से कुछ मुश्किल हो सकती है, ऐसे में वह चाहेंगे कि मुकाबला त्रिकोणीय हो। सवाल यह भी उठता है कि क्या बीजेपी को यह आशंका है कि मायावती के कोर वोटर्स यदि मूव करते हैं तो वह बीजेपी की तरफ आने की बजाय सपा की ओर जा सकते हैं। एक सवाल यह भी उठता है कि यदि बीजेपी मायवती की तारीफ करती है तो इससे बसपा को फायदा होगा या नुकसान? यदि बसपा के वोटर्स में यह संदेश जाता है तो कि बीजेपी और बसपा में नजदीकी बढ़ रही है तो ऐसे मतदाता जो बीजेपी को नहीं चाहते, सपा की ओर रुख कर सकते हैं।सतीश के सिंह कहते हैं कि समाजवादी पार्टी को ‘डिफॉल्ट वोट’ का फायदा हो सकता है। इसका मतलब है कि सपा के कोर वोटर ‘मुस्लिम यादव’ और जो अन्य समुदाय के ऐसे लोग जो सरकार से खुश नहीं है।डिफॉल्ट में अखिलेश की तरफ आ रहे हैं। कुछ ऐसे दलित मतदाता जिन्हें लग रहा है कि बसपा इस बार निर्णायक स्थिति में नहीं है और वह बीजेपी को पसंद नहीं करते है, वे डिफॉल्ट में सपा की ओर जा सकते हैं। ऐसे में बीजेपी की रणनीति है कि बसपा के वोटर्स हाथी के साथ रहें तो बीजेपी का फायदा है।

बुजुर्ग 'संतों के हित' में बड़ा कदम उठाएगी सरकार

बुजुर्ग 'संतों के हित' में बड़ा कदम उठाएगी सरकार    

संदीप मिश्र     

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पुरोहितों और बुजुर्ग संतों के हित में बड़ा कदम उठाएगी। सरकार प्रदेश में ‘पुरोहित कल्याण बोर्ड’ गठित करेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट के माध्यम से यह जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट में यह भी कहा है कि हम संस्कृत के हर विद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों के लिए विशेष छात्रवृत्ति की व्यवस्था करने जा रहे हैं। कथा व्यास शास्त्री शिवाकांत महाराज ने बीते दिनों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर पुजारियों, पुरोहितों के हित में उनके सम्मुख यह मांगें रखी थीं। मुख्यमंत्री की ओर से मांगों को स्वीकार करते हुए पुरोहित कल्याण बोर्ड का गठन करने और संस्कृत विद्यालयों के छात्रों के लिए विशेष छात्रवृत्ति की घोषणा करने पर शिवाकांत महाराज ने मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीते दिनों रायबरेली में जनसभा को संबोधित करते हुए ऐलान किया था कि चुनावी नतीजों के आने के बाद बीजेपी सरकार पुरोहित कल्याण बोर्ड का गठन करेगी। उन्होंने मंच से ऐलान किया कि संस्कृत पढ़ने वाले छात्रों को विशेष छात्रवृत्ति भी प्रदान की जाएगी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ये छात्र आगे चलकर राष्ट्र और समाज निर्माण में अपना योगदान देंगे। सीएम योगी ने कहा कि बीजेपी की डबल इंजन की सरकार में खुशहाली व तरक्की के नए अवसर खुले हैं। उच्च व रोजगारपरक शिक्षा से प्रदेश के युवाओं के जीवन मे नव प्रभात लाना डबल इंजन की भाजपा सरकार का लक्ष्य है।

कांग्रेस ने हमेशा जनता के हित में काम किया: प्रियंका

कांग्रेस ने हमेशा जनता के हित में काम किया: प्रियंका   

अकांशु उपाध्याय    
नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने गहलोत सरकार के पुरानी पेंशन स्कीम लागू किये जाने के फैसले को हितकारी करार देते हुए कहा है कि उनकी पार्टी की सरकार ने हमेशा जनता के हित में काम किया। प्रियंका गांधी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, “राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने ओल्ड पेंशन स्कीम लागू करके सरकारी कर्मियों के हित में बहुत बड़ा फैसला लिया है। कांग्रेस पार्टी सरकारी कर्मियों के हितों के लिए पूरी तरह समर्पित है। हमने जनता के हित में काम किया है, काम करते रहेंगे।”गौरतलब है कि राजस्थान विधानसभा में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को प्रदेश का बजट पेश करते हुए बड़ी घोषणा की। सीएम अशोक गहलोत ने कर्मचारियों की वेतन कटौती का 2017 का फैसला वापस लिया है। 
इससे सरकार पर 1000 करोड़ का भार आएगा। इसके अलावा प्रदेश में पुरानी पेंशन योजना फिर से लागू होगी, 1 जनवरी 2004 के बाद की नियुक्तियों को भी इसका लाभ मिलेगा।इसको लेकर सीएम गहलोत ने कहा, “हम सभी जानते हैं सरकारी सेवाओं से जुड़े कर्मचारी भविष्य के प्रति सुरक्षित महसूस करें तभी वे सेवाकाल में सुशासन के लिए अपना अमूल्य योगदान दे सकते हैं। अत: 1 जनवरी 2004 और उसके पश्चात नियुक्त हुए समस्त कार्मिकों के लिए मैं आगामी वर्ष से पूर्व पेंशन योजना लागू करने की घोषणा करता हूं।उल्लेखनीय है कि राजस्थान सहित देश के दूसरे राज्यों में कर्मचारी संघ लंबे समय से पुरानी पेंशन स्कीम की मांग कर रहे हैं। ऐसे में राजस्थान सरकार ने कर्मचारी संघ की मांग को मानते हुए पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करने का ऐलान कर दिया है। साल 2004 में पुरानी पेंशन योजना को खत्म कर दिया गया था।

साल 2004 से पहले कर्मचारियों को पुरानी पेंशन स्कीम के तहत रिटायरमेंट के बाद एक निश्चित पेंशन मिलती थी। यह पेंशन रिटायरमेंट के समय कर्मचारी के वेतन पर आधारित होती थी। इस स्कीम के तहत रिटायर्ड कर्मचारी की मौत के बाद उसके परिजनों को भी पेंशन का प्रावधान था। बीजेपी की अटल बिहारी वाजपेई की सरकार ने अप्रैल 2005 के बाद नियुक्त होने वाले केन्द्रीय कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन स्कीम को बंद कर दिया था और नई पेंशन योजना लागू की गई थी।

25 फरवरी से प्रारंभ होगा झारखंड का 'बजट सत्र'

25 फरवरी से प्रारंभ होगा झारखंड का 'बजट सत्र'   

इकबाल अंसारी       

रांची। झारखंड का बजट सत्र 25 फरवरी से शुरू होने वाला है। यह सत्र काफी हंगामेदार होने के आसार हैं। इस बार विपक्ष से अधिक तल्ख तेवर का सामना सरकार को अपने ही घर के लोगों से करना पड़ेगा। भाषा विवाद, स्थानीय एवं नियोजन नीति, ओबीसी आरक्षण और छठी जेपीएससी विवाद समेत कई ऐसे मसले हैं जिस पर सत्र में सरकार को विरोधियों के साथ-साथ अपने लोगों के सवालों का सामना करना पड़ेगा। जिसकी शुरूवात आज से ही हो गयी है।

बजट सत्र को लेकर झामुमो विधायक दल की बैठक मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के आवास पर होनी है। लेकिन बैठक के पूर्व ही खुद अपनी ही पार्टी के विधायक ने अपनी ही सरकार पर तिखे हमला किया है। झामुमो के वरिष्ठ विधायक लोबिन हेंब्रम ने सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि भाषा को छेड़छाड़ करने की जरूरत ही नहीं थी। जैसे चल रहा था, उसे चलने देना चाहिए था। इससे पूरा झारखंड गरमा गया है। उन्होंने कहा कि मौजूदा नियोजन नीति को सरकार को रद्द करके नयी नीति बनानी चाहिए। इस मुद्दे को लेकर सत्र में उठाएंगे। वहीं, विधायकों ने इस मसले पर मुख्यमंत्री के साथ बैठक की थी। यह तय होना चाहिए कि स्थानीय कौन है। लास्ट सर्वे सेटलमेंट के आधार पर स्थानीय नीति तय होनी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वे सरकार का विरोध नहीं करते हैं। वे सिर्फ आईना दिखाने का काम करता है।
पुराने प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह के जाने के बाद नए प्रभारी अविनाश पांडेय बने हैं। नए प्रभारी आने के बाद कांग्रेस पूरी तरह बदली-बदली नजर आ रही है। अब कांग्रेस सरकार के सामने गिड़गिड़ाने के बदले सीना तान के साथ चलने का मूड बना लिया है।भाषा विवाद, ओबीसी आरक्षण, कॉर्डिनेशन कमेटी, न्यूनत्तम साझा कार्यक्रम सहित कई मुद्दें पर कांग्रेस ने अपने तेवर कड़े कर लिए है। इसमें भाषा विवाद और ओबीसी आरक्षण पर सदन में कांग्रेस की ओर उठाए जाने के पूरे आसार हैं।
इधर, पिछले सप्ताह राजद के राष्ट्रीय नेताओं का जमवाड़ा रांची में हुआ। जिसमें नेताओं ने खुलकर भोजपुरी, मगही, मैथिली एवं अंगिका के पक्ष में बयान दिया और सरकार का विरोध किया है। राजद अपनी जमीन तलाशने का प्रयास में जुटी है। राजद की जमीन भोजपुरी बहुल क्षेत्रों में ही है। इसको देखते हुए राजद की ओर से भी सरकार को घेरने की पूरी तैयारी दिख रही है। बजट सत्र में भाजपा और आजसू भी सरकार के नाक में दम करेगा। भाजपा सदन में भाषा विवाद, स्थानीय नीति, नियोजन नीति, जेपीएससी मामले पर सरकार से दो-दो हाथ करेगी। संभवत: शुक्रवार को भाजपा एवं एनडीए विधायक दल की बैठक हो सकती है।

विदेश मंत्रालय ने यूक्रेन की यात्रा न करने की सलाह दी

विदेश मंत्रालय ने यूक्रेन की यात्रा न करने की सलाह दी  

सुनील श्रीवास्तव    

काठमांडू। यूक्रेन और रूस के बीच बढ़ते तनाव के बीच नेपाल के विदेश मंत्रालय ने अपने लोगों को यूक्रेन की यात्रा न करने की सलाह दी है। जब तक कि यह “बिल्कुल आवश्यक” न हो। विदेश मंत्रालय ने भी यूक्रेन में सभी नेपाली लोगों को स्थिति का आकलन करने के बाद घर आने के लिए कहा है। जिसमें कहा गया है कि दोनों देशों के बीच टकराव युद्ध में बदल सकता है। बुधवार को जारी एक बयान में कहा गया है। “विदेश मंत्रालय की सिफारिश है कि यूक्रेन में रहने वाले नेपाली नागरिक वहां की वर्तमान स्थिति और घटनाक्रम का विश्लेषण करें और जब तक उन्हें रहने की आवश्यकता न हो, वाणिज्यिक विमानों के माध्यम से स्वदेश लौट जाएं।

मंत्रालय के अनुसार, नागरिकों को यूक्रेन जाने की अपनी योजना को स्थगित करने के लिए कहा गया है, जब तक कि यह “बिल्कुल आवश्यक” न हो। मंत्रालय के अनुसार, 38 से अधिक नेपाली नागरिकों ने बर्लिन में नेपाल दूतावास से संपर्क किया है। जो यूक्रेन की चिंताओं को भी देखता है। अनिवासी नेपाली संघ (एनआरएनए) के प्रमुख हरि मल्ला के अनुसार, यूक्रेन में लगभग 200 नेपाली हैं। मल्ला ने कहा, “यूक्रेन में अधिकांश नेपाली पारगमन में हैं और ओडेसा, कीव, खार्किव, लुत्स्क, बिला त्सेरकवा और अन्य जैसे स्थानों में रह रहे हैं। उनमें से कुछ मानव तस्करी का शिकार बनने के बाद यहां समाप्त हुए।

यूक्रेन पर किए गए मिसाइल हमले में 9 की मौंत

यूक्रेन पर किए गए मिसाइल हमले में 9 की मौंत     

अखिलेश पांडेय     

कीव/ मास्को। लंबे तनाव के बाद रूस की ओर से यूक्रेन के ऊपर मिसाइल से किए गए हमले की चपेट में आकर यूक्रेन के 9 नागरिकों की मौत हो गई है। यूक्रेन के कई इलाकों में पहुंच चुकी रुसी फौज की ओर से लगातार हमले करते हुए धमाके किए जा रहे हैं। उधर यूक्रेन की ओर से दावा किया गया है कि उसकी सेना ने रूस के 6 फाइटर विमानों को मार गिराया है।

बृहस्पतिवार को रूस की ओर से यूक्रेन पर किए गए मिसाइल हमले में नौ नागरिकों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि यूक्रेन में घुसी रूसी सेना ने वहां के कई गांव के ऊपर अपना कब्जा कर लिया है। जहां सिलसिलेवार एक के बाद एक धमाके हो रहे हैं। इस बीच बेलारूस बॉर्डर की ओर से भी रूस ने यूक्रेन पर हमला बोल दिया है। रूस अब तीन तरफ से यूक्रेन की घेराबंदी करते हुए उसके ऊपर अपने हमले की कार्यवाही को आगे बढ़ा रहा है। दूसरी तरफ नाटो सेना भी अब रूस के खिलाफ जवाबी सैन्य कार्रवाई करने की तैयारी कर रहा है। मुख्य बात यह है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन जहां रूस की ओर से किए गए हमले की बात को स्वीकार कर रहे हैं वहीं उनकी सेना ने कहा है कि उसने यूक्रेन के ऊपर अभी तक हमला नहीं किया है।

भाजपा नेता के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज

भाजपा नेता के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज    

कविता गर्ग     

मुंबई। मुंबई पुलिस ने स्वत: संज्ञान लेते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता मोहित कंबोज के खिलाफ एक आपराधिक मामला दर्ज किया है। महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक कार्य मंत्री नवाब मलिक की गिरफ्तारी का जश्न मनाने के लिए बुधवार की शाम सांताक्रूज में सार्वजनिक स्थान पर कंबोज ने तलवार लहराई थी।पुलिस सूत्रों ने कहा कि जब तलवार लहराने की खबर प्रसारित की गई तो पुलिस ने स्वत: कार्रवाई की और सांताक्रूज में मोहित काम्बोज के आवास पर पहुंच गई और मामला दर्ज किया।

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के एक कथित मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा मलिक की गिरफ्तारी की आधिकारिक घोषणा के बाद कंबोज अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ सांताक्रूज स्थित अपने आवास पर एकत्र हुए। समारोह के दौरान कंबोज ने तलवार लहराई थी। भाजपा नेता के खिलाफ आर्म्स एक्ट की धारा 4 और 25 और धारा 37(1) (सी) और 135 के साथ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 188 (एक लोक सेवक द्वारा कानूनी रूप से घोषित आदेश की अवज्ञा) और 268 (सार्वजनिक उपद्रव) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

एक्ट्रेस नम्रता ने इंस्टाग्राम पर तस्वीरें शेयर की: मुंबई

एक्ट्रेस नम्रता ने इंस्टाग्राम पर तस्वीरें शेयर की: मुंबई   

कविता गर्ग     

मुंबई। भोजपुरी जगत में नई पीढ़ी की एक्ट्रेस ने अपना कब्जा जमाना शुरू कर दिया है। मोनालिसा, अक्षरा सिंह और आम्रपाली दुबे जैसी हॉट अदाकाराओं के बाद अब एक्ट्रेस नम्रता मल्ला भी यहां अपनी खूबसूरती और हुस्न का जलवा बिखेरकर सभी को हैरान कर रही हैं। उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है और फैंस के बीच काफी चर्चा में भी है। नम्रता द्वारा इंस्टाग्राम पर पोस्ट की गई तस्वीरों में देखा गया कि वो ब्लैक कलर की ब्रा पहनी हुईं अपनी अंडरगारमेंट्स को फ्लॉन्ट करती नजर आ रही हैं।

फोटो में उनका स्लिम और फिट अंदाज देखकर हर कोई ढंग है और उनकी और आकर्षित ही रह है। उनकी इन तस्वीरों को 22 हजार से भी अधिक लाइक्स और कमैंट्स प्राप्त हुए हैं। देखें उनकी ये हॉट तस्वीरे। बात दें कि नम्रता अपने हॉट बेली डांसिंग स्टाइल के लिए मशहूर हैं। हाल ही में उन्होंने भोजपुरी सुपरस्टार खेसारी लाल यादव के साथ एक म्यूजिक वीडियो में भी काम किया जिसके बाद से वो और भी अधिक लोगों के नजर में आई। फैैंस उन्हें भोजपुरी सिनेमा की नोरा फतेही कहने से भी नहीं कतराते हैं।

भारत के कई राज्यों के लिए बारिश का अलर्ट जारी

भारत के कई राज्यों के लिए बारिश का अलर्ट जारी    

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। दिल्ली समेत उत्तर भारत में बीते कुछ दिनों से न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी होने से ठंड से राहत तो मिली है। लेकिन अब भारतीय मौसम विभाग ने कई राज्यों के लिए बारिश का अलर्ट जारी कर दिया है।आईएमडी के मुताबिक, हिमाचल, उत्तराखंड समेत अन्य कुछ राज्यों में बारिश की पूरी संभावना है। दिल्ली में आज से बादल छाए रहेंगे। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार 26 फरवरी तक मौसम ऐसा ही बना रहेगा। इस दौरान 25 और 26 फरवरी को गरज के साथ बारिश की संभावना है। वहीं तेज हवाएं भी चलेंगी. मौसम विभाग के मुताबिक हवाओं की रफ्तार 25 से 30 किलोमीटर प्रति घंटे हो सकती है। दिल्ली में आज अधिकतम तापमान 26 डिग्री तो वहीं न्यूनतम तापमान 13 डिग्री रहेगा।

राजस्थान में अभी भी पश्चिमी विक्षोभ का असर बरकरार है। जयपुर सहित कई जिलों में आज बादल छाए रहेंगे।  भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार आज प्रदेश में बादल के छाए रहने और बारिश की संभावना है। राजस्थान के अधिकतर जिलों में अधिकतम तापमान 28 डिग्री के आसपास रहेगा तो वहीं 15 से 17 डिग्री के आसपास न्यूनतम तापमान के रहने की संभावना है। पूर्वी हवा के कारण प्रदेश में आज से मौसम में बदलाव देखने को मिल सकता है। राजधानी पटना समेत बिहार के दक्षिण-पश्चिम, दक्षिण-मध्य, दक्षिण-पूर्व एवं उत्तर-पूर्व के अलग-अलग भागों में मेघ गर्जन के साथ बिजली चमकने और बारिश होने के आसार हैं। राज्य के अधिकतर जिलों में आज अधिकतम तापमान 25 से 26 डिग्री रहने के अनुमान है तो वहीं न्यूनतम तापमान 16 डिग्री रह सकता है।

दावा: रूस के 5 प्लेन एवं 1 हेलीकॉप्टर को मारा

दावा: रूस के 5 प्लेन एवं 1 हेलीकॉप्टर को मारा     

अखिलेश पांडेय        

मास्को/कीव। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के यूक्रेन में सैन्य कार्रवाई के ऐलान के बाद क्षेत्र में जंग शुरू हो चुकी है। यूक्रेन की राजधानी कीव सहित कुछ शहरों में धमाकों की भी खबरें हैं। इस बीच यूक्रेन ने बड़ा दावा किया है। यूक्रेन ने कहा है कि उसने रूस के पांच प्लेन और एक हेलीकॉप्टर को मार गिराया है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की ओर से ये जानकारी दी गई है। बताया गया है कि ये कार्रवाई पूर्वी यूक्रेन में की गई है। वहीं, दूसरी ओर रूस की ओर से दावा किया गया है कि उसने यूक्रेन के एयरबेस, एयरडिफेंस को तबाह कर दिया है।

यूक्रेन में सैन्य कार्रवाई पर रूसी सेना ने कहा है कि उसने यूक्रेन के एयर बेस, मिलिट्री बेस को ही निशाना बनाया है। रूसी सेना ने कहा है कि आबादी वाले क्षेत्रों को निशाना नहीं बनाया गया है। रूसी की ओर से ये बयान उस समय आए हैं जब ये खबर आई कि यूक्रेन के कुछ शहरों में धमाके हुए हैं और मिसाइल से हमला किया गया है। व्लादिमीर पुतिन के ऐलान के बाद जंग की शुरुआत। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गुरुवार को यूक्रेन में सैन्य अभियान की घोषणा की। साथ ही पुतिन ने अन्य देशों को चेतावनी दी कि रूसी कार्रवाई में किसी प्रकार के हस्तक्षेप के प्रयास ‘के ऐसे परिणाम होंगे,जो उन्होंने पहले कभी नहीं देखे होंगे।’

टेलीविजन पर एक संबोधन में पुतिन ने अमेरिका और उसके सहयोगियों पर यूक्रेन को उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) में शामिल करने से रोकने तथा मास्को को सुरक्षा गारंटी देने की रूस की मांग को नजरंदाज करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि यूक्रेन द्वारा पेश किए जा रहे खतरों के जवाब में यह कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि रूस का लक्ष्य यूक्रेन पर कब्जा करना नहीं है, बल्कि क्षेत्र को सैन्य प्रभाव से मुक्त बनाना एवं अपराध करने वालों को न्याय के कटघरे में खड़ा करना है। अमेरिका ने कही है रूस को जवाब देने की बात। पुतिन के ऐलान के कुछ देर बाद ही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन का बयान भी आया। उन्होंने एक लिखित बयान में कहा, ‘रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक पूर्व नियोजित युद्ध को चुना है, जिसका लोगों के जीवन पर विनाशकारी प्रभाव होगा। इस हमले में लोगों की मौत और तबाही के लिए केवल रूस जिम्मेदार होगा।’ उन्होंने कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगी एवं साझेदार एकजुट होकर एवं निर्णायक तरीके से इसका जवाब देंगे। दुनिया रूस की जवाबदेही तय करेगी।

पीएसओ के ज़रिए जासूसी करने के आरोप लगाए

पीएसओ के ज़रिए जासूसी करने के आरोप लगाए     

श्रीराम मौर्य       
शिमला। हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र का आज दूसरा दिन है। सदन की कार्यवाही 11 बजे शुरू हुई। सत्र के दूसरे दिन की शुरुआत दो दिवंगत विधायकों किशोरी लाल और चमन लाल के शोकोद्गार के साथ हुई है। इसके बाद प्रश्नकाल के दौरान नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार पर विधायकों व नेताओं की पुलिस के पीएसओ के ज़रिए जासूसी करने के आरोप लगाए।
विधायकों के पीएसओ के ज़रिए पुलिस विभाग द्वारा उनकी लोकेशन और उनकी गतिविधियों की जानकारियां जुटाने के आरोप पर सदन में माहौल गरमा गया। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने सदन में सरकार पर गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि मामला चुने गए प्रतिनिधियों के विशेषाधिकार का हनन है।
इस पर सदन में सीएम जयरा ने कहा कि सरकार की तरफ से इस तरह के कोई ऑर्डर नहीं है केवल और केवल विधायकों और जनप्रतिनिधियों की सुरक्षा से जुड़े मसले पर ज़रूर समय-समय पर इस तरह की जानकारी ली जाती है। वह केवल विधायकों की सुरक्षा के चलते उनकी आवाजाही को लेकर अगर ऐसा किया जाता है तो ये केवल सामान्य प्रक्रिया का हिस्सा है।अगर विधायकों खासकर विपक्ष के लोगों को ऐसा लगता है तो सरकार ज़रूर इस विषय की गहनता से जांच करवाएंगे।सीएम ने कहा कि विधायकों की सुरक्षा सरकार की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है और इसमें किसी भी तरह की कोई कोताही नहीं बरती जाएगी। इसकी ज़रूर सरकार जांच करेगी

यूक्रेन में फंसे भारतीय बच्चों को भारत पहुंचाने की मांग

यूक्रेन में फंसे भारतीय बच्चों को भारत पहुंचाने की मांग 

अखिलेश पांडेय      
कीव। यूक्रेन में हालात बिगड़ने से वहां पढ़ाई करने गए भारतीय छात्रों के अभिभावकों की चिंताएं बढ़ गई हैं। हिमाचल के सैकड़ों लोग यूक्रेन में रह रहे हैं, उनकी वापसी को लेकर परिवार के लोग काफी चिंतित हो उठे हैं। वहीं, जिला चम्बा के 11 व्यक्ति यूक्रेन में फंसे हैं जिनमें से अधिक्तर शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चे हैं। इन बच्चों के चिंतित अभिभावकों ने गुरुवार को जिला पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव को ज्ञापन सौंपकर उन्हें जल्द भारत लाने की मांग उठाई है। अभिभावकों ने कहा कि उनके बच्चे उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए यूक्रेन गए हुए हैं। 
लेकिन अब वहां हालात बिगड़ने के कारण वे फंस चुके हैं। कुछेक बच्चों ने टिकट तक बुक करवा रखी है लेकिन हवाई उड़ानों पर रोक लगने से वे स्वयं को असहाय महसूस कर रहे हैं। इससे पहले भी पुलिस प्रशासन को उनकी विस्तृत जानकारी उपलब्ध करवाई जा चुकी है। लेकिन बावजूद इसके अब तक बच्चों को भारत नहीं लाया जा सका है। अब उन्हें अपने बच्चों की चिंता सताने लगी है। उन्होंने कहा कि दूरभाष और व्हाट्सएप के माध्यम से वे लगातार बच्चों के संपर्क में हैं। उन्होंने मांग की है कि जल्द से जल्द उनके बच्चों को सर कुशल भारत पहुंचाया जाए।

कृषि को स्मार्ट बनाने के लिए 7 रास्ते सुझाए: पीएम

कृषि को स्मार्ट बनाने के लिए 7 रास्ते सुझाए: पीएम    

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री ने ब्रहस्पतिवार को कहा कि बजट में कृषि को आधुनिक और स्मार्ट बनाने के लिए मुख्य रूप से सात रास्ते सुझाए गए हैं। जिनमें गंगा के दोनों किनारों पर पांच किलोमीटर के दायरे में नेचुरल फार्मिंग को मिशन मोड पर कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने कृषि से संबंधित एक वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा कि कृषि और बागवानी में आधुनिक टेक्नॉलॉजी किसानों को उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि तीन साल पहले आज के ही दिन पीएम किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की गई थी। यह योजना आज देश के छोटे किसानों का बहुत बड़ा संबल बनी है। इसके तहत देश के 11 करोड़ किसानों को लगभग पौने दो लाख करोड़ रुपए दिए जा चुके हैं।

प्रधानमंत्री  ने कहा कि बीते सात सालों में बीज से बाज़ार तक ऐसी ही अनेक नई व्यवस्थाएं तैयार की गयी हैं और पुरानी व्यवस्थाओं में सुधार किया है। सिर्फ छह सालों में कृषि बजट कई गुणा बढ़ा है। किसानों के लिए कृषि लोन में भी सात सालों में ढाई गुणा की बढ़ोतरी की गई है। उनका कहना है की वर्ष 2023 को अंतरराष्ट्रीय मिलेट वर्ष घोषित किया गया है। इसमें भी हमारा कॉरपोरेट जगत आगे आए, भारत के मिलेट की ब्रैंडिंग करे, प्रचार करे। हमारे दूसरे देशों में जो बड़े मिशन्स हैं, वह भी अपने देशों में बड़े-बड़े सेमिनार करे, वहां के लोगों को जागरुक करे कि भारत केमिलेट कितने उत्तम हैं।

उन्होंने कहा कि ‘पर ड्रोप मोर क्राप’ पर सरकार का बहुत जोर है और ये समय की मांग भी है। इसमें भी व्यापार जगत के लिए बहुत संभावनाएं हैं। केन-बेतवा लिंक परियोजना से बुंदेलखंड में क्या परिवर्तन आएंगे, ये सभी भलीभांति जानते हैं। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस 21वीं सदी में खेती और खेती से जुड़े ट्रेड को बिल्कुल बदलने वाली है। प्रधानमंत्री ने कहा कि किसान ड्रोन का देश की खेती में अधिक से अधिक उपयोग इसी बदलाव का हिस्सा है।

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव, 10 को मतगणना होगी

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव, 10 को मतगणना होगी    

पंकज कपूर    

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 के मतदान 14 फरवरी को संपन्न हो चुके हैं। आप सभी की नजरें मतगणना पर टिकी हुई है। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 के लिए 10 मार्च को मतगणना होनी है। उत्तराखंड में मतदान के बाद से ही बयानबाजी का दौर लगातार जारी है। वही, बीजेपी कांग्रेस दोनों ही अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहे हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का कहना है कि भाजपा ने पूर्व में भी साठ पार का नारा दिया था और चुनाव में प्रदेश की जनता ने भाजपा के पक्ष में मतदान किया है। प्रदेश में भाजपा साठ पार का आंकड़ा पूरा करने जा रही है। हरीश रावत के ईवीएम और पोस्टल बैलेट पर दिए गए बयान को उन्होंने हास्यास्पद बताया।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि कांग्रेस को अच्छी तरह पता है कि वह बुरी तरह हार रही है। हरीश रावत के अनर्गल बयान बता रहे हैं कि कांग्रेस ने हार स्वीकार कर ली है और हार की बौखलाहट में हरीश रावत ईवीएम में गड़बड़ी होने और पोस्टल बैलेट में कांग्रेस के खिलाफ मतदान संबंधी गलत आरोप लगा रहे हैं। यह बयान पूरी तरह हास्यास्पद है। उन्होंने कहा कि भाजपा जीत के प्रति आश्वस्त है औ र प्रदेश में भाजपा की पूर्ण बहुमत से सरकार बनने जा रही है।

महायुद्ध: रूस ने यूक्रेन के सैन्य अड्डों को उड़ाया

महायुद्ध: रूस ने यूक्रेन के सैन्य अड्डों को उड़ाया     

सुनील श्रीवास्तव      

कीव। शक्तिशाली रूस और यूक्रेन का महायुद्ध शुरू हो चुका है। जिसमें सबसे पहले रुस की तरफ से यूक्रेन पर हमला शुरू किया गया है। जानकारी के मुताबिक हमले में रूस ने यूक्रेन के हवाई और सैन्य अड्डों को भी उड़ा दिया गया है। इतना ही नहीं, हमला शुरू होते ही यूक्रेन की ओर भी अब बयान जारी कर कहा गया है कि वह भी हार मानने वालों में से नहीं है। इस युद्ध का वह जमकर सामना करेंगे और जीत भी हासिल करेंगे। हालांकि अभी लगातार यूक्रेन में धमाकों की आवाजें गूंज रही है। यूक्रेन को काफी हद तक क्षति पहुंच चुकी है। गुरुवार को जब यूक्रेन धमाकों से गूंजने लगा उसी वक्त यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने रूसी भाषा में संबोधन किया। उन्होंने कहा कि यूक्रेन के लोग और सरकार शांति चाहती है। मगर हम पर हमला होता है या हमारे देश को हमसे छीनने की कोशिश होती है, आजादी छीनने की कोशिश होती है, हमारे बच्चों की जिंदगी छीनने की कोशिश होती है तो हम अपना बचाव करेंगे। उन्होंने रूस के लिए कहा कि जब आप हमपर हमला करेंगे तो हमारा सीना देखेंगे, हमारी पीठ नहीं।

एक ओर जहां यूक्रेन के राष्ट्रपति ने अपना बयान जारी किया, वहीं रूसी सेना का भी बयान आ चुका है। उनका कहना है कि उन्होंने अभी तक किसी भी आम नागरिक को निशाना नहीं बनाया है। केवल सेना के अड्डों को ही निशाना बनाया है। जिसमें यूक्रेन के एयर बेस, मिलिट्री बेस शामिल है। यह बनाया इसलिए जारी किया गया क्योंकि इससे पहले खबरें आई कि यूक्रेन में कई जगहों पर धमाके सुनाइ दिए है। यूक्रेन की सीमा के पास सैन्य उपकरणों के उपयोग के कारण उत्पन्न सुरक्षा खतरे के बीच रूसी हवाई क्षेत्र नागरिक विमानों के लिए बंद कर दिया गया है। एक विमानन अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि, हथियारों और सैन्य उपकरणों के उपयोग के कारण नागरिक विमान उड़ानों की सुरक्षा के लिए यूक्रेन की पश्चिमी सीमा और आगे बेलारूस की पश्चिमी सीमा के साथ लगे हवाई क्षेत्र का इस्तेमाल बंद किया गया है।

एक्ट्रेस रवीना ने फिल्म 'घुड़चढ़ी' की शूटिंग प्रारंभ की

एक्ट्रेस रवीना ने फिल्म 'घुड़चढ़ी' की शूटिंग प्रारंभ की    

कविता गर्ग       

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त और एक्ट्रेस टंडन ने अपनी आने वाली फिल्म 'घुड़चढ़ी' की शूटिंग शुरू कर दी है। संजय दत्त ने इस बात की जानकारी कॉमेडी फिल्म 'घुड़चढ़ी' का एक टीजर सोशल मीडिया पर शेयर कर फैंस को दी है। इसके कैप्शन में उन्होंने लिखा, "मजेदार फिल्म 'घुड़चढ़ी' के साथ ला रहे हैं हंसी और ड्रामा, आपके दरवाजे पर जल्द आ रही है।

संजय-रवीना इस फिल्म की शूटिंग जयपुर में कर रहे हैं। बिनॉय गांधी के निर्देशन में बन रही इस फिल्म में संजय-रवीना के अलावा खुशाली कुमार और पार्थ समथान भी मुख्य भूमिकाओं में नजर आने वाले हैं। इस फिल्म की कहानी दीपक कपूर भारद्वाज ने लिखी है।

मुकाबला: 55 पैसे गिरकर 75.16 पर आया रुपया

मुकाबला: 55 पैसे गिरकर 75.16 पर आया रुपया    

अखिलेश पांडेय           

कीव/ मास्को। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा यूक्रेन के खिलाफ सैन्य अभियान की घोषणा के बाद बृहस्पतिवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 55 पैसे गिरकर 75.16 पर आ गया। विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि विदेशी कोषों की लगातार बिकवाली, घरेलू शेयर बाजार में कमजोर रुख और कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई।

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनियम बाजार में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 75.02 पर खुला, और फिर पिछले बंद भाव से 55 पैसे की गिरावट दर्ज करते हुए 75.16 पर आ गया। इस बीच छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.59 प्रतिशत बढ़कर 96.75 पर आ गया। वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 4.67 प्रतिशत उछलकर 101.36 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

कारोबार: 55,770.71 पर पहुंचा बीएसई सेंसेक्स

कारोबार: 55,770.71 पर पहुंचा बीएसई सेंसेक्स   

कविता गर्ग     

मुंबई। रूस के यूक्रेन में सैन्य अभियान शुरू करने की घोषणा के बाद वैश्विक शेयर बाजारों में भारी बिकवाली का असर बृहस्पतिवार को घरेलू बाजारों पर भी हुआ और शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स तथा निफ्टी 2.5 प्रतिशत से अधिक टूट गए। इस दौरान 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 1,461.35 अंक या 2.55 प्रतिशत गिरकर 55,770.71 पर आ गया। जबकि एनएसई निफ्टी 430.10 अंक या 2.52 फीसदी की गिरावट के साथ 16,633.15 पर था।

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स के सभी शेयर भारी नुकसान के साथ कारोबार कर रहे थे। सबसे अधिक नुकसान वाले शेयरों में एयरटेल, इंडसइंड बैंक, टेक महिंद्रा और एसबीआई शामिल थे। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन में सैन्य अभियान शुरू करने की घोषणा की, जिससे दुनिया के बाजारों में भारी बिकवाली देखने को मिली। यूक्रेन-रूस संकट को देखते हुए ब्रेंट क्रूड तेल आठ साल में पहली बार बढ़कर 100 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल हो गया। शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बुधवार को 3,417.16 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।

लोगों की सुरक्षित वापसी के लिए मंत्री से मदद मांगी

लोगों की सुरक्षित वापसी के लिए मंत्री से मदद मांगी    

इकबाल अंसारी    

पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने संकटग्रस्त यूक्रेन में फंसे गोवा के लोगों की सुरक्षित वापसी के लिए विदेश मंत्री एस जयशंकर से मदद मांगी है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन में एक सैन्य अभियान की घोषणा करते हुए दावा किया कि इसका उद्देश्य नागरिकों की रक्षा करना है। प्रमोद सावंत ने ट्वीट किया, “हम यूक्रेन में मौजूद गोवा के लोगों के बारे में चिंतित हैं, जो रूस-यूक्रेन संकट के मद्देनजर भारत लौटने पर विचार कर रहे हैं। मैं विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर जी से गोवावासियों की सुरक्षित वापसी में मदद करने का अनुरोध करता हूं। मैं पूरी स्थिति पर नजर बनाए हुए हूं।” गोवा के प्रवासी भारतीय मामलों के आयुक्त नरेंद्र सवाईकर ने भी इस सिलसिले में विदेश मंत्रालय को एक पत्र लिखा है।

सवाईकर ने पत्र में कहा कि, गोवा के कई लोग वर्तमान में उच्च शिक्षा सहित विभिन्न उद्देश्यों के लिए यूक्रेन में रह रहे हैं। रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे मौजूदा तनाव के कारण, मुझे भारत लौटने के लिए लोगों से मदद और सहायता के लिए अनुरोध प्राप्त होने लगे हैं।” उन्होंने कहा कि यूक्रेन में रह रहे गोवा के लोग इस समय घबराए हुए हैं।

तिरुमूर्ति ने सुरक्षा परिषद की बैठक को संबोधित किया

तिरुमूर्ति ने सुरक्षा परिषद की बैठक को संबोधित किया

अखिलेश पांडेय     

कीव/ मास्को। यूक्रेन के डोनबास क्षेत्र में रूस के विशेष सैन्य कार्यक्रम शुरू करने की घोषणा के बाद भारत ने गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रूस और यूक्रेन से तत्काल युद्ध की तीव्रता को कम करने और ऐसे किसी भी कदम से बचने की अपील की है। जिससे स्थिति बद्तर हो सकती है। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने सुरक्षा परिषद की एक आपातकालीन बैठक को संबोधित करते हुए रूस और यूक्रेन में घटनाक्रमों पर गहरी चिंता व्यक्त की और कहा कि यदि स्थिति को संभाला न गया तो क्षेत्र की शांति और सुरक्षा नष्ट हो सकती है। उन्होंने कहा कि जब दो दिन पहले सुरक्षा परिषद की बैठक हुई थी तब भारत ने तनाव को तत्काल कम करने का आह्वान किया था और स्थिति से संबंधित सभी मुद्दों को हल करने के लिए निरंतर और केंद्रित कूटनीति पर जोर दिया था।

तिरुमूर्ति ने कहा, “ हम खेद के साथ कहना चाहते हैं कि तनाव को कम करने के लिए सभी पक्षों द्वारा की गई हालिया पहलों को समय देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के आह्वान पर ध्यान नहीं दिया गया। भारत ने सभी पक्षों से अलग-अलग हितों को पाटने के लिए अधिक से अधिक प्रयास करने का भी आह्वान किया। सभी पक्षों के वैध सुरक्षा हितों को पूरी तरह से ध्यान में रखा जाना चाहिए।” उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय कानून और संबंधित पक्षों द्वारा किए गए समझौतों के अनुसार विवादों के शांतिपूर्ण समाधान की आवश्यकता पर बल दिया।

उन्होंने कहा कि छात्रों सहित 20,000 से अधिक भारतीय नागरिक सीमावर्ती क्षेत्रों सहित यूक्रेन के विभिन्न हिस्सों में स्थित हैं। भारत आवश्यकतानुसार भारतीय छात्रों सहित सभी भारतीय नागरिकों की वापसी की सुविधा प्रदान कर रहा है। तिरुमूर्ति ने कहा कि समाधान संबंधित पक्षों के बीच निरंतर राजनयिक बातचीत से ही संभव है। उन्होंने कहा, “ हम अत्यधिक संयम बरतते हुए सभी पक्षों के लिए अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा बनाए रखने की महत्वपूर्ण आवश्यकता पर जोर देते हैं।” यूएनएससी की दूसरी आपात बैठक तब हुई जब रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि रूस पूर्वी यूक्रेन में एक सैन्य अभियान शुरू करेगा। टीवी पर प्रसारित अपने संबोधन में श्री पुतिन ने कहा कि यह कार्रवाई यूक्रेन से आने वाली धमकियों के जवाब में की गई है। उन्होंने अन्य देशों को चेतावनी दी कि रूसी कार्रवाई में हस्तक्षेप करने के किसी भी प्रयास के परिणाम उन्होंने कभी नहीं देखे होंगे।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-139, (वर्ष-05)
2. शुक्रवार, फरवरी 25, 2022
3. शक-1984, फाल्गुन, कृष्ण-पक्ष, तिथि-नवमीं, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 07:10, सूर्यास्त: 06:14।
5. न्‍यूनतम तापमान- 11 डी.सै., अधिकतम-21+ डी सै.। बर्फबारी व शीतलहर के साथ बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, (प्रधान संपादक) राधेश्याम व शिवांशु, (सहायक संपादक) श्रीराम व सरस्वती के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
10.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालयः डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

यूपी: 9 जिलें, 59 सीट, 59.23 फीसदी मतदान

यूपी: 9 जिलें, 59 सीट, 59.23 फीसदी मतदान     


संदीप मिश्र         

लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनाव के चौथे चरण में बुधवार को नौ जिलों की 59 विधानसभा सीट के लिए वोटिंग हुई। जिन जिलों में आज मतदान हुआ। उनमें राजधानी लखनऊ भी शामिल है। 59 सीटों से कुल 624 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। पोलिंग बूथ पर सुरक्षा के भी तगडे़ इंतजाम किए गए।  

यूपी के चौथे चरण में अब तक 59.23 फीसदी मतदान हुआ है। 9 जिलों की कुल 59 सीटों में मतदान शांतिपूर्ण तरीके से हुआ है। कुछ जगहों पर ईवीएम में शिकायत आई थी। लखीमपुर खीरी में ईवीएम में फेवीक्विक डालने की घटना आई थी। जिस पर चुनाव आयोग ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...