शनिवार, 17 जून 2023

बिपारजॉय तूफान का असर, आज से बारिश शुरू 

बिपारजॉय तूफान का असर, आज से बारिश शुरू 

संदीप मिश्र

लखनऊ। बिपारजॉय तूफान का असर प्रदेश में दिखना शुरू हो गया है। मौसम विभाग के अनुसार, रविवार से प्रदेश के पश्चिमी और दक्षिणी जिलों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो सकती है। हालांकि पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में रात में पारा अधिक रहने के लिए चेतावनी जारी की गई है। सोमवार से प्रदेश भर में 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ बौछार के साथ कुछ जिलों में भारी बारिश के लिए चेतावनी जारी की गई है। 

आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक मोहम्मद दानिश के अनुसार, तूफान का असर अगले हफ्ते में चार से पांच दिनों तक रह सकता है। शनिवार को कश्मीर की ओर सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के चलते उत्तर प्रदेश के कुछ पश्चिमी जिलों में बादलों की आवाजाही और बूंदाबांदी हो सकती है। वहीं, पूर्वी उत्तर प्रदेश में लू और रात में गर्मी बढ़ने के लिए चेतावनी जारी की गई है। वहीं, रविवार से प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में तेज धूल भरी हवा और बारिश का अंदेशा है।

तूफान का असर गुरुवार तक रह सकता है। सोमवार से पश्चिमी और दक्षिणी उत्तर प्रदेश के आगरा, इटावा, झांसी, महोबा, ललितपुर समेत लगभग 10 जिलों में भारी बारिश के लिए भी चेतावनी जारी है। शुक्रवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान 29.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। प्रदेश भर में बदली और हवा से अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई।

सर्वाधिक तापमान प्रयागराज में 44 डिग्री और झांसी में 43.7 डिग्री दर्ज किया गया। वहीं, प्रदेश भर में न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की गई। सबसे कम तापमान नजीबाबाद में 24 डिग्री और बरेली में 25.3 डिग्री सेल्सियस पर दर्ज किया। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार, गुरुवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ गरज और चमक और आंधी चल सकती है। वहीं पूर्वी उत्तर प्रदेश में लू के साथ रात में भी गर्मी बढ़ने के लिए चेतावनी जारी की गई है। लखनऊ और आसपास के इलाकों में मौसम शुष्क रहेगा अधिकतम तापमान 41 डिग्री और न्यूनतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस के आसपास दर्ज हो सकता है।

वाराणसी में एक सप्ताह से अधिक समय से चल रही तापलहर अभी अपनी प्रचंड अवस्था में है। चार दिन पूर्व 13 जून को अब तक का सर्वाधिक तापमान होने के बाद भी हालांकि पारा धीमी गति से ढलान पर है लेकिन शुक्रवार को यह सामान्य से पांच डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। इधर न्यूनतम तापमान भी सामान्य से तीन डिग्री सेल्सियस अधिक 30.5 डिग्री सेल्सियस पर बना रहा। 31 किमी प्रति घंटा के वेग से चली हवाएं अंगार लेकर बहती रहीं।

अस्पतालों में हीट स्‍ट्रोक के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। मौसम विज्ञानियों का अनुमान है कि अभी इस पूरे सप्ताह तापलहर का कहर ऐसे ही बना रहेगा। अगले सप्ताह की शुरुआत से संभव है कि इसमें परिवर्तन हो। बहरहाल पूरे दिन तेज आंधी जैसी हवा के साथ प्रचंड आंच बहती रही, बाहर निकलते ही चमड़ी झुलसा देने वाली लू शरीर से टकराती तो इसकी तीव्रता का एहसास होता।

दोपहर होते-होते मनुष्य ही नहीं, पशु-पक्षी भी छांव ढूंढ कर दुबक गए थे। बीएचयू के मौसम विज्ञानी प्रो. मनोज कुमार श्रीवास्तव बताते हैं कि इस पूरे सप्ताह मौसम ऐसे ही रहना है। अगले सप्ताह की शुरुआत में सोमवार को दोपहर बाद या शाम से कुछ परिवर्तन होना शुरू होगा। शाम को या रात में हल्के फुल्के बादल आएंगे। मंगलवार व बुधवार को इनकी सघनता बढ़ेगी।

गुरुवार यानी 22 जून से संभव है कि कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ छींटे पड़ें या धूल भरी आंधी आए। बिपारजॉय के कारण और विलंबित होगा मानसून प्रो. श्रीवास्तव बताते हैं कि देश के अनेक हिस्सों में बिपारजॉय तूफान के कारण इस ओर आने वाले मौसम का रास्ता बाधित हो गया है। बंगाल की खाड़ी की ओर से आने वाला मानसून उत्तरी बिहार में पूर्णिया के आसपास ठहर गया है। बिपारजॉय का प्रभाव खत्म होने के बाद ही मानसून को आगे बढ़ने की राह मिलेगी। संभावना है कि 27-28 जून तक ही मानसून इधर पहुंचे।

महिला पहलवान के परिवार को डराया और धमकाया 


भारतीय कुश्ती संघ के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ आंदोलनरत पहलवान साक्षी मलिक ने एक वीडियो जारी किया है। उन्होंने बृजभूषण सिंह पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि नाबालिग महिला पहलवान के परिवार को डराया और धमकाया गया। जिसके बाद उसने बयान बदल लिया। उन्होंने कहा कि नाबालिग महिला पहलवान ने पुलिस के सामने 161 और मजिस्ट्रेट के सामने 164 में बयान दिया था। लेकिन उसके परिवार को डराया धमकाया गया, जिसके बाद उसने बयान बदल लिया।

पहलवान साक्षी मलिक ने कहा कि हमारा आंदोलन राजनीति से प्रेरित नहीं है, कांग्रेस का भी इसमें कोई हाथ नहीं था। जब पहली बार जनवरी में हमने आंदोलन किया था, तो उस आंदोलन की परमिशन बीजेपी के 2 लीडर्स ने दिलाई थी। जिसका सबूत भी है।

आंदोलनरत पहलवान ने कहा कि हमने बार-बार कहा कि हमारी लड़ाई सरकार के खिलाफ नहीं, बल्कि फेडरेशन के खिलाफ थी। उन्होंने कहा कि एक ना होने के कारण प्रशासन इसका फायदा उठाता है। यह लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती है।

नाबालिग पहलवान के यौन उत्पीड़न केस में बृजभूषण को क्लीन चिट क्यों? पुलिस ने बताई ये वजह

’12 साल से हो रही थी महिला पहलवानों से छेड़छाड़’

साक्षी मलिक और उनके पति सत्यव्रत कादियान ने वीडियो में कहा कि हमारे खिलाफ अफवाएं फैलाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि कुश्ती से जुड़े 90 फीसदी लोगों को पता है कि पिछले 12 साल से महिला पहलवानों से इस तरह की छेड़छाड़ की जा रही थी। कई लोग इसके खिलाफ आवाज उठाना चाहते थे, लेकिन हमारी रेसलिंग कमेटी में एकता की कमी थी। अगर किसी ने आवाज उठाने की कोशिश भी की तो ये बात बृजभूषण सिंह तक पहुंचती थी और उसके करियर में दिक्कत आना शुरू हो जाती थी।

साक्षी मलिक ने कहा कि हम पर आरोप था कि हम अभी तक चुप क्यों थे ? इसके कई कारण हैं, पहला कारण तो ये है कि हम पहलवानों में एकता की कमी थी। उन्होंने कहा कि कुश्ती में आने वाले खिलाड़ी गरीब परिवारों से होते हैं। उनमें पावरफुल आदमी के खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत नहीं होती। साक्षी ने कहा कि जब इंडिया के टॉप रेसलर्स ने आवाज उठाई तो उन्हें किन हालातों से गुजरना पड़ा ये सभी ने देखा।

सत्यव्रत ने कहा कि 28 मई को जो महिला महापंचायत हुई थी, उसका फैसला खाप पंचायत ने लिया था। हमें इस फैसले के बाद पता चला था कि नई संसद का उद्घाटन होने वाला है। लेकिन हमने अपने बड़े-बुजुर्गों का सम्मान किया। लेकिन हमारे साथ 28 मई को पुलिस ने जो व्यवहार किया, उसने हमें अंदर से तोड़ दिया था। हमने देश का मान बढ़ाया, लेकिन हमें सड़कों पर रौंद दिया। इससे हम आहत हो गए थे। इसके बाद हमने अपने सारे मेडल्स गंगाजी में प्रवाहित करने का फैसला लिया था। क्योंकि हमें ये मेडल्स बेमानी नजर आ रहे थे। लेकिन हम हरिद्वार में भी इस सिस्टम की साजिश का शिकार हो गए।

विनेश फोगाट, साक्षी मलिक और बजरंग पूनिया के नेतृत्व में तमाम पहलवानों ने जनवरी में बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ मोर्चा खोला था। पहलवानों ने बृजभूषण शरण पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं। तब खेल मंत्रालय के दखल के बाद पहलवानों का धरना खत्म हो गया था। इसके बाद 23 अप्रैल को पहलवान दोबारा जंतर मंतर पर धरने पर बैठे। इसके साथ ही 7 महिला पहलवानों ने बृजभूषण के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत दिल्ली पुलिस से की थी। पुलिस ने महिला पहलवानों की शिकायत पर बृजभूषण के खिलाफ दो मामले दर्ज किए थे।

इन पहलवानों ने 23 अप्रैल से 28 मई तक जंतर मंतर पर धरना दिया था। पहलवानों ने 28 मई को जंतर मंतर से नई संसद तक मार्च निकाला था। इसी दिन पीएम मोदी नई संसद का उद्घाटन कर रहे थे। ऐसे में पुलिस ने मार्च की अनुमति नहीं दी थी। इसके बावजूद जब पहलवानों ने मार्च निकालने की कोशिश की थी, तो पुलिस के साथ हाथापाई और धक्का मुक्की हुई थी। इसके बाद पुलिस ने 28 मई को पुलिस ने पहलवानों को धरना स्थल से हटा दिया था।

चेक बाउंस होने के मामलें में आत्मसमर्पण किया

चेक बाउंस होने के मामलें में आत्मसमर्पण किया

कविता गर्ग 

मुंबई/रांची। बालीवुड अभिनेत्री अमीषा पटेल ने एक चेक बाउंस होने के मामलें में शनिवार को यहां रांची की दिवानी अदालत में आत्मसमर्पण किया। वरिष्ठ डिवीजन न्यायाधीश न्यायाधीश डी एन शुक्ला ने अभिनेत्री को जमानत दे दी और उनसे 21 जून को व्यक्तिगत रूप से अदालत में पेश होने के लिए कहा। 

यह मामला 2018 का है, जब झारखंड के फिल्म निर्माता अजय कुमार सिंह ने अभिनेत्री के खिलाफ धोखाधड़ी और चैक बाउंस का मामला दर्ज करवाया था। शिकायतकर्ता की वकील विजय लक्ष्मी श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘इससे पहले अदालत ने कई बार सम्मन जारी किए थे किंतु वह पेश नहीं हुईं।

बाद में अदालत ने उनके विरूद्ध वारंट जारी किया।’’ शिकायत के अनुसार सिंह ने ‘देसी मैजिक’ फिल्म के निर्माण के लिए अभिनेत्री के बैंक खाते में ढाई करोड़ रूपये जमा करवाये थे। बहरहाल, अमीषा ने फिल्म में काम नहीं किया और ढाई करोड़ रूपये का चेक भिजवा दिया किंतु यह बाउंस हो गया।

डीएम ने तहसील दिवस में जन समस्याएं सुनी

डीएम ने तहसील दिवस में जन समस्याएं सुनी

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। शनिवार को तहसील सभागार में लगे तहसील दिवस में जिलाधिकारी ने जन समस्याएं सुनी। उन्होंने आई शिकायतों का निस्तारण करने के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जो शिकायतें आई हैं, वह दोबारा से नहीं आनी चाहिए। जिस विभाग की शिकायत दोबारा आए तो उस पर कार्रवाई की जाएगी।

जिलाधिकारी अरविंद मल्लप्पा बंगारी शनिवार को खतौली तहसील दिवस में पहुंचे। जिलाधिकारी ने क्षेत्र के लोगों की जन समस्याएं सुनी। तहसील दिवस में मात्र 22 शिकायतें आई जिसमें से एक शिकायत का निस्तारण कराया गया। साथ ही निस्तारण की गई शिकायत में लापरवाही बरतने वाले विभाग के अधिकारी को जमकर हड़काया। तहसील दिवस में आई शिकायतें अधिकतर जमीन संबंधी रही। किसी ने डोल का विवाद बताया तो किसी ने जमीन पर कब्जा करने की जानकारी दी।

तहसील दिवस में भूप खेड़ी के युवा वर्ग के लोगों ने जिलाधिकारी को बोर्ड लगाए जाने के लिए परमिशन के लिए पत्र दिया, इसके अलावा गीता पुरी निवासी एक महिला ने पड़ोस में रहने वाले युवक पर जमीन पर अवैध रूप से कब्जा करने की शिकायत की। तहसील दिवस के बाद जिलाधिकारी ने मौजूद संबंधित विभाग के अधिकारियों को आई। शिकायतों का निस्तारण जल्द से जल्द करने को कहा है, साथ ही कहा कि संबंधित अधिकारी हर रोज शिकायतों के निस्तारण के बारे में जानकारी देंगे, जो शिकायतें आई है‌।

अगर वह दोबारा आई, तो उस विभाग के अधिकारी पर कार्यवाही की जाएगी। तहसील दिवस में सीडीओ, सीएमओ एमएस फौजदार, एसडीएम सुबोध कुमार, तहसीलदार आरती यादव, सीओ रविशंकर मिश्रा, चिकित्सा अधिकारी डॉ अवनीश कुमार आदि मौजूद रहे।

विधायक द्वारा विकास कार्यों का भूमिपूजन किया

विधायक द्वारा विकास कार्यों का भूमिपूजन किया


धरसीवां विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा ने किया विभिन्न विकास कार्यों का भूमिपूजन..... 

विधायक अनिता योगेन्द्र शर्मा ने किया 45 लाख के विकास कार्यों का भूमिपूजन

रायपुर। धरसीवां विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा के द्वारा शनिवार को अपने विधानसभा क्षेत्र के ग्राम पंचायत सिलयारी में सामुदायिक भवन 5 लाख रुपये, सतनामी भवन 7 लाख, निषाद समाज भवन 3 लाख, साहू समाज भवन 3 लाख ग्राम पंचायत खोना में प्राथमिक विद्यालय में तीन अतिरिक्त कक्ष 24 लाख रुपये, ठाकुर और साहू समाज भवन में अहाता निर्माण 7 लाख रुपये सहित लगभग 45 लाख रूपए के विकास कार्यों का विधिवत पूजा पाठ कर भूमिपूजन किया।

विधायक अनिता योगेंद्र शर्मा ने कहा क्षेत्र की जनता के मूलभूत सुविधाओं की मांग थी, जिसको देखते हुए क्षेत्रवासियों की मांग को पूरा करते हुए आज विकास कार्यों भूमिपूजन किया और निश्चित आज छत्तीसगढ़ माडल पूरे देश में चर्चा हैं और हमारी सरकार के द्वारा ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के उद्देश्य से अनेक प्रकार की योजनाएं चल रही हैं, जिससे ग्रामीण जनों को विभिन्न प्रकार के रोजगार के अवसर मिल रहे हैं।

निश्चित ही ग्रामीण जनों के लिए नरवा गरवा घुरवा बाड़ी योजना हो जिससे आज महिलाएं एवं ग्रामीण जन इससे लाभान्वित हो रहे हैं और आर्थिक रूप से समृद्धि मिल रही है, जो हमारी सरकार की सफलता हैं। आज इस अवसर में प्रमुख रूप से भारी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित रहे।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-247, (वर्ष-06)

2. रविवार, जून 18, 2023

3. शक-1944, आषाढ़, कृष्ण-पक्ष, तिथि- अमावस्या, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:23, सूर्यास्त: 07:21। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 19 डी.सै., अधिकतम- 34+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

गर्मी में 'गुलकंद' खाने के अनेक फायदे, जानिए

गर्मी में 'गुलकंद' खाने के अनेक फायदे, जानिए  सरस्वती उपाध्याय  बेहद सुंदर और सुगंधित फूल 'गुलाब' गुणों की खान है और इसकी पं...