गुरुवार, 31 अगस्त 2023

मायावती का एनडीए में स्वागत है: रामदास

मायावती का एनडीए में स्वागत है: रामदास 

रोहित भारद्वाज 
नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा है कि अगर मायावती एनडीए का हिस्सा बनती हैं तो वो स्वागत करेंगे। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि यह एनडीए की अगुवाई कर रही बीजेपी के फैसले पर निर्भर है कि वह मायावती को गठबंधन का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित करे।
बता दें कि अठावले का यह बयान मायावती के उस वक्तव्य के बाद आया है जिसमें उन्होंने साफ किया है कि वो एनडीए या इंडिया गठबंधन के साथ हाथ नहीं मिलाने जा रही हैं। मायावती ने कहा है कि सभी राजनीतिक पार्टियां बीएसपी के साथ गठबंधन करने की इच्छुक हैं। 
सोशल मीडिया पर कई पोस्ट के जरिए रखा अपना स्टैंड
मायावती सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर बुधवार को कई पोस्ट के माध्यम से अपने स्टैंड के बारे में जानकारी दी थी। उन्होंने लिखा-एनडीए व इण्डिया गठबंधन अधिकतर गरीब-विरोधी जातिवादी, साम्प्रदायिक, धन्नासेठ-समर्थक व पूंजीवादी नीतियों वाली पार्टियां हैं जिनकी नीतियों के विरुद्ध बीएसपी अनवरत संघर्षरत है और इसीलिए इनसे गठबंधन करके चुनाव लड़ने का सवाल ही पैदा नहीं होता।
2019 में किया था गठबंधन
बता दें कि कुछ दिनों पहले भी मायावती पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में एनडीए-इंडिया से गठबंधन न करने की बात कह चुकी हैं। इससे पहले 2019 के लोकसभा चुनाव में बीएसपी ने समाजवादी पार्टी से हाथ मिलाया था। हालांकि नतीजों में गठबंधन को कोई खास सफलता हाथ नहीं लगी थी। जब गठबंधन बना था तब कई विश्लेषकों ने इसे बड़ा कदम बताया था तो कई ने इसे बेमेल गठबंधन भी कहा था। सपा-बसपा के बीच का यह गठबंधन ज्यादा समय तक नहीं टिका।

प्रदेश की कंपनियों को बड़ा मंच प्रदान किया

प्रदेश की कंपनियों को बड़ा मंच प्रदान किया 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। देश के 'ग्रोथ इंजन' के तौर पर अपनी भूमिका को विस्तार देता उत्तर प्रदेश न केवल 'वन ट्रिलियन डॉलर' की इकॉनमी बनने की ओर तेजी से प्रयासरत है, बल्कि वैश्विक पटल पर 'फूड बास्केट ऑफ इंडिया' के तौर पर भी अपनी पहचान को भी पुख्ता कर रहा है। यही कारण है कि उत्तर प्रदेश कृषि व खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में नित नई ऊंचाइयों को छू रहा है। ऐसे में, जब 21 से 25 सितंबर के बीच ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो सेंटर व मार्ट में इंटरनेशनल ट्रेड शो 2023 का आयोजन होने जा रहा है तो यह निश्चित है कि इस मेगा ट्रेड शो में फूड, डेयरी और एग्रो सेक्टर से जुड़ी व प्रदेश में व्यापक उपस्थिति रखने वाली कंपनियों को एक बड़ा मंच प्रदान किया जाएगा। इस ट्रेड शो में यूं तो पूरी दुनिया से ही सभी क्षेत्रों की तमाम दिग्गज कंपनियां हिस्सा लेंगी मगर खास तौर पर उत्तर प्रदेश में व्यापक उपस्थिति रखने वाली फूड, डेयरी व एग्रो बेस्ड कंपनियों को प्राथमिकता दी जाएगी। इससे न केवल ये कंपनियां उत्तर प्रदेश की ब्रांडिंग का हिस्सा बनेंगी बल्कि व्यापक वैश्विक बाजार तक इन कंपनियों के प्रोडक्ट्स की पहुंच का मार्ग भी प्रशस्त हो सकेगा।     
कई बड़ी कंपनियां दर्ज कराएंगी उपस्थिति
इस मेगा ट्रेड शो में एग्रो, फूड व डेयरी बेस्ड जिन कंपनियों की व्यापक उपस्थिति रहने वाली हैं उनमें पतंजली, हल्दीराम, प्रिया गोल्ड, बिकानेरवाला, वैद्यनाथ, रिचुअल फूड्स, फ्रेश फूड्स, ऑगस्टिया फूड्स, इंडियन बी कीपर श्री गिरिजा, पारस, अमूल, प्राइम फूड्स, ज्ञान डेयरी, क्रीमी फूड फेयर एक्सपोर्ट व अन्य प्रमुख हैं। इसके अतिरिक्त खाद्य, कृषि व डेयरी उत्पादों से संबंधित ग्रामीण, लघु व कुटीर उद्योगों को भी ट्रेड शो में प्राथमिकता दी जाएगी। इसके अतिरिक्त, खाद्य प्रसंस्करणों से जुड़े विभागों, लॉजिस्टिक्स-वेयरहाउसिंग, पशुपालन, मत्स्य पालन, डेयरी व अन्य प्रमुख विभागों से संबंधित स्टॉल्स भी ट्रेड शो में व्यापक उपस्थिति दर्ज कराएंगे। इनमें से कई ने अभी से अपने स्टॉल्स को बुक करा लिया है जबकि कई अन्य संबंधित प्रक्रियाओं को अंतिम रूप देने में लगे हुए हैं। इसके अलावा, ओडीओपी समेत खाद्य प्रसंस्करण से जुड़ी जीआई टैगिंग प्राप्त प्रोडक्ट्स को भी बड़े स्तर पर ट्रेड शो में शोकेस किया जाएगा।
स्वाद से लेकर मैनेजमेंट फंडा भी होगा फूड ओरिएंटेड
खास बात यह है कि इस ट्रेड शो में चाहें बात परोसी जाने वाली कुजीन्स की हो या फिर मैनेजमेंट फंडे की, फूड हर जगह छाया रहेगा। ट्रेड शो में डिग्नीट्रीज को जो पकवान परोसे जाएंगे उनमें उत्तर प्रदेश की विरासत और श्रीअन्न का गुणवत्तापरक स्वाद मुख्य भूमिका निभाएंगे। प्रदेश के उन भोज्य पदार्थों को ट्रेड शो में आने वाले लोगों को परोसा जाएगा जो उत्तर प्रदेश की पहचान हैं। इसके अलावा, यहां आयोजित होने वाले सेशंस में एक सेशन तो केवल मुंबई के डिब्बेवालों की सक्सेस जर्नी को ही समर्पित है। आईईएमएल के डॉ. पवन अग्रवाल मुंबई के डिब्बावालों की सक्सेस जर्नी, उनकी लॉजिस्टिकल सप्लाई मैनेजमेंट, सप्लाई चेन व टाइम मैनेजमेंट के प्रिंसिपल्स से जुड़े फैक्टर्स व केस स्टडी साझा करेंगे। इससे सेशन में शामिल होने वाले लोगों को डिब्बेवालों के उदाहरण के जरिए मैनेजमेंट फंडा के कई अहम तथ्य सीखने को मिलेंगे।

प्यार में धर्म बदलकर खुशबू बनी 'फरीना'

प्यार में धर्म बदलकर खुशबू बनी 'फरीना' 

अविनाश श्रीवास्तव 
मुजफ्फरपुर। बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के करजा धाना क्षेत्र के पकड़ी पकोही गांव की रहने वाली फरीना खातून को गांव के ही करन से प्यार हो गया। दोनों का प्यार परवान चढ़ा तो फरीना खातून और करन ने घर से भागकर शादी कर ली। फरीना ने करन की खातिर अपना धर्म बदला और खुशबू बनकर उसके साथ सात फेरे लिए। अब खुशबू के लिए मुश्किलें खड़ी हो गईं हैं। उसने कानून का सहारा लिया है और जान बचाने की गुहार लगाई है। खुशबू के परिजन अब करन और उसे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं।
फरीना बनी खुशबू, लिए सात फेरे
मुस्लिम लड़की फरीना खातून ने धर्म परिवर्तन कर हिन्दू लड़के करन से शादी कर ली है। अब खुशबू बनी फरीना खातून को परिजन जान से मारने की धमकी दे रहे हैं।.फरीना खातून यानी खुशबू की गलती ये है कि वह गांव के ही हिन्दू लड़के करन से बेपनाह मोहब्बत करती है। जब फरीना और करन, दोनों की मोहब्बत परवान चढ़ी तो दोनों ने शादी करने की ठानी लेकिन मुस्लिम होने की वजह से करन के परिजन फरीना को नहीं अपना रहे थे तो उसने प्यार के झुकना मुनासिब नहीं समझा।
मोहब्बत चढ़ी परवान, घर से भागी फरीना
फरीना घर छोड़कर करन के पास पहुंच गई और अपना धर्म परिवर्तन करा लिया। हिन्दू धर्म अपनाने के बाद फरीना खुशबू हो गई। फरीना उर्फ खुशबू और करन ने हिन्दू रीति-रिवाज से मंदिर में शादी कर ली। शादी की जानकारी मिलते ही फरीना के माता पिता ने करन पर फरीना का अपहरण करने का मामला दर्ज करा दिया। जब फरीना को इस बात का पता चला तो वह सीधे थाने पहुंची और फिर कोर्ट में अपना बयान दर्ज करवाया कि उसका अपहरण नहीं हुआ बल्कि अपनी मर्जी से उसने घर से भागकर करन के साथ सात फेरे लिए हैं।
कोर्ट में की फरियाद
कोर्ट में फरीना ने ये भी बताया कि उसने अपनी मर्जी से अपना धर्म परिवर्तन कराया है और हिन्दू रीति रिवाज के साथ करन से मंदिर में शादी की है। अब वो करन के साथ ही रहना चाहती और अपने ससुराल जाना चाहती है। हालांकि लड़की फरीना खातून उर्फ खुशबू को उसके परिजन के तरफ से जान मारने की धमकी मिल रही है। इसके लिए फरीना उर्फ खुशबू ने न्यायालय से जान की रक्षा की गुहार भी लगाई है।

भाजपा: मंथन पूरा हुआ, दूसरी लिस्ट जारी

भाजपा: मंथन पूरा हुआ, दूसरी लिस्ट जारी

हरिओम उपाध्याय 
भोपाल। मध्य प्रदेश में हारी हुई विधानसभा सीटों पर भारतीय जनता पार्टी का मंथन पूरा हो गया है। बीजेपी सितंबर के पहले हफ्ते में उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी कर सकती हैं। यह सूची 39 सीटों के बाद बाकी बची 64 सीटों को लेकर जारी होगी। जल्द ही नामों का ऐलान किया जाएगा। 
इनके नाम लगभग तय-
संभावित उम्मीदवारों के नाम है, दमोह से पूर्व मंत्री जयंत मलैया के बेटे सिद्धार्थ मलैया का नाम तय माना जा रहा हैं। वहीं छिंदवाड़ा से बंटी साहू, शाजापुर से अरुण भीमावत, बिजावर से राकेश शुक्ला, निवास से राम प्यारे कुलस्ते, लखनादौन से विजय कुमार उइके, कटंगी से बोध सिंह भगत पूर्व सांसद, बड़नगर से मुकेश पंड्या, डबरा से इमरती देवी, राघौगढ़ से हीरेंद्र सिंह बंटी, राजनगर से अरविंद पटेरिया, बैतूल से हेमंत खंडेलवाल, बुरहानपुर से अर्चना चिटनीस, नागदा से दिलीप सिंह शेखावत, मल्हारगढ़ से जगदीश देवडा, मंदसौर से यशपालसिंह सिसौदिया, जावद से ओमप्रकाश सकलेचा को टिकट मिलना लगभग तय माना जा रहा हैं।
इन सीटों पर दो नाम का पैनल-
प्रदेश की जुन्नारदेव (अजजा) विधानसभा सीट से आशीष ठाकुर और नथन शाह कवरेती, अमरवाड़ा (अजजा) सीट से उत्तम ठाकुर और कामनी शाह, परासिया (अजा) से ताराचंद बावरिया और ज्योति डहेरिया, जबलपुर पश्चिम में अभिलाष पांडे और प्रभात साहू, जबलपुर उत्तर से धीरज पटेरिया और पूर्व मंत्री शरद जैन के बेटे रोहित, बैतूल के घोड़ाडोंगरी सीट पर मंगल सिंह और गंगाबाई उइके, देवरी से बृजबिहारी पटेरिया और मंगल सिंह लोधी, सुवासरा से हरदीपसिंह डंग और विनय जांगिड़, मनासा से माधव मारु और कैलाश चावला, जावरा से केकेसिंह और राजेंद्र पाण्डेय के नाम का पैनल बना हैं।
सिहावल सीट से रीति पाठक, विश्वामित्र पाठक, कोतमा से लवकुश शुक्ला और उमा सोनी, तेंदूखेड़ा से विश्वनाथ प्रताप सिंह और राव उदय प्रताप सिंह, गाडरवारा से गौतम पटेल और साधना स्थापक, खिलचीपुर से हजारीलाल दांगी और दिनेश पुरोहित, आलोट से रमेश मालवीय और जितेंद्र गहलोत, सेंधवा से पूर्व मंत्री अंतर सिंह आर्य के बेटे विकास आर्य और डॉक्टर रेहलस सेनानी, राजपुर (अजजा) से अंतर पटेल और सुभाष पटेल पूर्व सांसद, करैरा से जसवंत जाटव और रमेश खटीक, दिमनी से गिर्राज दंडोतिया और शिवमंगल सिंह तोमर, ग्वालियर दक्षिण से नारायण सिंह कुशवाह और अनूप मिश्रा के नाम का पैनल बनाया गया हैं।
इन सीटों पर बना 3 नामों का पैनल-
सतना विधानसभा सीट से शंकर लाल तिवारी, रत्नाकार चतुर्वेदी शिवा और लक्ष्मी यादव, रैगांव (अजा) से प्रतिमा बागरी, रानी बागरी और पुष्पराज बागरी, राजगढ़ से अमर सिंह यादव, प्रताप सिंह मंडलोई और हरिचरण तिवारी के नाम का पैनल तैयार किया गया है। आगर (अजा) से ओम मालवीय, मधु गहलोत और गोपाल परमार, सैलाना से गुमान सिंह डामोर, नारायण मेडा और संगीता चेरल, श्योपुर से दुर्गालाल विजय, महावीर सिंह सिसोदिया और ब्रजराज सिंह, मुरैना से रघुराज सिंह कंषाना, रुस्तम सिंह और राकेश रुस्तम सिंह, पानसेमल (अजजा) से दीवान सिंह पटेल, श्याम बर्डे और विकास डाबर, गरोठ से देवीलाल धाकड़, राजेश सेठीया, श्यामसिंह चौहान के नाम का पैनल बना है। ऐसा सुत्र बताते है। 
इन सीटों पर 3 से ज्यादा दावेदारों का नाम-
मप्र के खरगोन भीकनगांव (अजजा), खरगोन व भगवानपुरा (अजजा), झाबुआ थांदला (अजजा), धार सरदारपुर (अजजा), गंधवानी व मनावर (अजजा), इंदौर देपालपुर व इंदौर-एक विधानसभा सीट पर तीन से अधिक दावेदारों के नाम का पैनल बनने की जानकारी सुत्र बताते है।

पुतिन-जिनपिंग सम्मेलन में सम्मिलित नहीं होंगे

पुतिन-जिनपिंग सम्मेलन में सम्मिलित नहीं होंगे 

सुनील श्रीवास्तव
नई दिल्ली। भारत इस बार जी-20 सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में जी-20 का सम्मेलन 9 और 10 सितंबर को होने जा रहा है, जिसमें दुनिया के 28 से ज्यादा देशों के राष्ट्राध्यक्ष और प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे। जिसमें अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों जैसे ताकतवर लोगों का नाम शामिल है। लेकिन इस बीच खबर आई है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग जी-20 के सम्मेलन में हिस्सा लेने भारत नहीं आ रहे हैं।
हालांकि अभी केवल जिनपिंग के दिल्ली न आने की संभावना जताई गई है। क्योंकि जिनपिंग का भारत आना तय माना जा रहा था, चीनी विदेश मंत्रालय की तरफ से भी उनके भारत दौरे पर मुहर लग चुकी थी। लेकिन अब सूत्रों के हवाले से उनके ना आने की जानकारी मिली है। आपको बता दें कि इससे पहले रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का भी भारत आने का प्रोग्राम टल गया है।
शी जिनपिंग के जगह कोई और करेगा चीन का प्रतिनिधित्व
दरअसल, समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने बताया कि अगले सप्ताह भारत में होने जा रहे जी-20 नेताओं के शिखर सम्मेलन से चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग खुद को दूर रख सकते हैं। हालांकि उनके भारत न होने की कोई स्पष्ट वजह नहीं बताई गई है। चीन स्थित एक भारतीय राजनयिक के लिए काम करने वाले एक अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि नई दिल्ली में 9 व 10 दिसंबर को आयोजित होने जा रहे जी-20 समिट में चीन की तरफ से प्रधानमंत्री ली कियांग प्रतिनिधित्व कर सकते हैं। वहीं, भारत और चीन के विदेश मंत्रालायों की तरफ से अभी तक इस बात पर कोई बयान नहीं आया है।
पुतिन भी नहीं आएंगे भारत
आपको बता दें कि इससे पहले रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का भी भारत दौरा टल चुका है। पुतिन का भी भारत आकर दिल्ली में जी-20 सम्मेलन में हिस्सा लेना प्रस्तावित था। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन कर जी20 सम्मेलन में हिस्सा न लेने की बात कही है। इस दौरान पुतिन ने कहा कि नई दिल्ली में 9 और 10 सितंबर को होने जा रहे जी20 सम्मेलन में उनकी जगह रूस की तरफ से विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव प्रतिनिधित्व करेंगे।

सीट-बंटवारे के जटिल मुद्दा, चर्चा की संभावना

सीट-बंटवारे के जटिल मुद्दा, चर्चा की संभावना

अकाशुं उपाध्याय 
नई दिल्ली। संयुक्त मीडिया ब्रीफिंग में पवार ने राष्ट्रीय विपक्षी दलों द्वारा 2024 के लोकसभा चुनावों के लिए सीट-बंटवारे के जटिल मुद्दे पर चर्चा किए जाने की संभावना का संकेत दिया।
एनसीपी प्रमुख ने कहा कि इस गठबंधन की पहले हो चुकीं दो बैठकें बहुत महत्वपूर्ण थीं और अब भारतीय जनता पार्टी का मुकाबला करने के लिए विपक्षी गुट की संयुक्त रणनीति पर अगले दो दिनों में चर्चा होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि कुछ वरिष्ठ नेताओं का एक पैनल बनाया जा सकता है और उसे राज्य और स्थानीय स्तर पर लोकसभा चुनाव के लिए सीट-बंटवारे के फॉर्मूले पर चर्चा करने का काम सौंपा जा सकता है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हाल ही में विभिन्न राष्ट्रीय विपक्षी नेताओं पर लगाए गए आरोपों पर एक सवाल के जवाब में पवार ने केंद्र को चुनौती दी कि अगर उनमें साहस है, तो उन्हें केवल ऐसे आरोप लगाने के बजाय मामलों की जांच करनी चाहिए और तथ्य सामने लाने चाहिए। बसपा सुप्रीमो मायावती के संभावित रुख पर, जो कथित तौर पर इंडिया गठबंधन में शामिल होने के विचार पर विचार कर रही हैं, पवार ने कहा कि यह देखा जाना बाकी है, क्योंकि वह भाजपा के साथ भी चर्चा कर रही हैं।
83 वर्षीय नेता दो दिवसीय इंडिया सम्‍मेलन की पूर्व संध्या पर खचाखच भरे मीडिया सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए राष्ट्रीय विपक्षी दलों के गेमप्लान की रूपरेखा तैयार करने के लिए गुरुवार-शुक्रवार को कॉन्क्लेव होना निर्धारित है। अब तक पूरे भारत से 28 विपक्षी दलों ने कॉन्क्लेव में भाग लेने की पुष्टि की है। बिहार और कर्नाटक में हुई पिछली दो बैठकों के विपरीत, किसी ऐसे राज्य में आयोजित होने वाला यह पहला इंडिया कॉन्क्लेव है, जहां किसी भी गुट के घटक का शासन नहीं है।

मास्टर ब्लास्टर सचिन के खिलाफ धरना-प्रदर्शन

मास्टर ब्लास्टर सचिन के खिलाफ धरना-प्रदर्शन   

इकबाल अंसारी   
मुंबई। क्रिकेट जगत के भगवान कहे जाने वाले सच‍िन तेंदुलकर ऑनलाइन गेम‍िंग को प्रमोट करने पर न‍िशाने पर आ गए हैं। बृहस्पतिवार को मास्टर-ब्लास्टर सच‍िन तेंदुलकर के ख‍िलाफ उनके मुंबई में उपस्थित घर के बाहर प्रदर्शन किया गया। यह प्रदर्शन महाराष्ट्र के न‍िर्दलीय विधायक बच्चू कडू और उनके समर्थकों ने किया।
बच्चू कडू ने प्रदर्शन को लेकर कई तस्वीर ट्व‍िटर पर साझा की। उन्होंने कई ट्ववीट कर प्रदर्शन का कारण भी बताया। बच्चू ने ल‍िखा, “भारत रत्न सचिन तेंदुलकर से बार-बार पेटीएम फर्स्ट गैम्बल‍िंग विज्ञापनों को बंद करने का अनुरोध किया। मगर अब तक ऐसा नहीं हुआ है। हम तेंदुलकर के खिलाफ नहीं हैं मगर एक भारत रत्न व्यक्ति के लिए यह अशोभनीय है। या तो उन्हें विज्ञापन बंद कर देना चाहिए या फिर भारत रत्न लौटा देना चाहिए”
ओमप्रकाश बाबाराव कडु (बच्चू कडू) महाराष्ट्र के अचलपुर से विधान सभा के एक स्वतंत्र सदस्य हैं।अचलपुर विधानसभा क्षेत्र अमरावती (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) का एक भाग है। वह 2004 से 2019 तक निरंतर 4 बार महाराष्ट्र विधानसभा के लिए चुने गए हैं। वो पूर्व में महाराष्ट्र सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। बच्चू वर्तमान में अपने खिलाफ एक मामले में दो वर्षों की सजा काट रहे हैं। इससे पहले भी बच्चू कडू ने सच‍िन तेंदुलकर को ऑनलाइन गेम‍िंग को लेकर धमकाया था। उन्होंने सच‍िन तेंदुलकर को वैध नोटिस भेजने की बात कही थी।

एडवोकेट हत्याकांड मामलें में तीन अरेस्ट किए

एडवोकेट हत्याकांड मामलें में तीन अरेस्ट किए 

अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। जनपद में बुधवार को थाना सिहानी गेट क्षेत्र अंतर्गत एडवोकेट मनोज चौधरी की हत्या के मामले में पुलिस ने गंभीरता से मामले को लेते हुए घटना के कुछ ही घंटे बाद उसके जीजा समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया है । पुलिस का कहना है कि जीजा ने मायके में रह रही पत्नी से बेटी को रक्षाबंधन पर घर भेजने के लिए कहा था। मना करने पर विवाद हुआ। इसके बाद साजिश रच कर गोली मारकर हत्या को अंजाम दिया गया। पुलिस का कहना है कि आरोपी जीजा और उसकी पत्नी के बीच प्रॉपर्टी का विवाद था। आरोपी ने पत्नी के नाम पर करीब 1.5 करोड़ की प्रॉपर्टी ली थी। जिसे वह भाई के माध्यम से बेचने का प्रयास कर रहा था। इसे लेकर उनमें काफी समय से विवाद चल रहा है।

नोएडा के किसान कुछ बड़ा करने को तैयार

नोएडा के किसान कुछ बड़ा करने को तैयार

अश्वनी उपाध्याय 
गौतम बुध नगर। अपनी मांगे को हल ना होते देख किसानों ने अपने आंदोलन को तेज करने की रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है। किसान सभा के प्रवक्ता डॉक्टर रुपेश वर्मा ने बताया कि धरना दे रहे किसानों ने तय किया है की 12 सितंबर को प्राधिकरण के दोनों गेटों को बिल्कुल बंद कर दिया जाएगा और किसी को भी अंदर या बाहर नहीं आने दिया जाएगा जब तक हमारे मुद्दों को हल करने का समाधान नहीं कर दिया जाएगा इसी कड़ी में हम सभी साथियों ने गांव में मीटिंगों का दौर फिर से शुरू कर दिया है और गांवो से अपील की जा रही है कि वह अपने हको के लिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में प्राधिकरण पर पहुंचे।
किसान सभा के सचिव जगदीश नंबरदार ने बताया कि हमारे मुद्दों के प्रति जनप्रतिनिधियों व प्राधिकरण का रवैया ढुलमुल है हमारे इतने अवगत कराने के बाद भी उनको किसानों के मुद्दों की गंभीरता समझ नहीं आ रही है क्षेत्र में इन बातों को लेकर आक्रोश है हम इन लोगों को चेताना चाहते हैं कि या तो यह जल्द से जल्द मुद्दों को हल करें अन्यथा किसान बड़े कदम उठाने के लिए विवश होंगे।
आज के धरने की अध्यक्षता जगदीश नंबरदार बादलपुर ने कि व संचालन निरंकार प्रधान सादोपुर ने किया। महिला किसान जोगेंद्री ने कहा कि रक्षाबंधन का पावन पर्व होने के बावजूद भी हम महिलाओं ने तय किया है कि हम अपना त्यौहार धरना स्थल पर ही मनाएंगे और अपने भाइयों को यहीं पर राखी बंधेंगे हम प्राधिकरण को व जनप्रतिनिधियों को अपने अपनी पीड़ा से अवगत कराने के लिए अपना त्यौहार भी यहीं मनाएंगे।
आज के धरने की अध्यक्षता कर रहे किसान सभा के संरक्षक जगदीश नंबरदार ने बताया कि जनप्रतिनिधियों का काम अपनी वोटो तक सीमित है वह लोगों के मध्य जब वोट मांगने के लिए आते हैं तो अच्छे-अच्छे बातें करते हैं और वादे करके जाते हैं कि आपकी समस्याएं हमारी समस्या है परंतु वही जनप्रतिनिधि जब किसान अपनी समस्याओं को लेकर पिछले 4 महीना से सड़कों पर है तो अपने आलीशान मकानो में कुंभकर्णी नींद सोए हुए हैं हम जब तक उन्हें नींद से नहीं जाग लेते तब तक यहां से जाने वाले नहीं है।
किसान सभा के उपाध्यक्ष सूबेदार ब्रह्मपाल ने कहा कि प्राधिकरण पिछले 20   दिनों से हमसे बोल रहा है कि हमने आपके 17 मुद्दे हल कर दिए हैं परंतु हकीकत यह है कि अभी तक हल किए हुए मुद्दों को भी उन्होंने लागू नहीं किया है यह किसानों के साथ धोखा किया जा रहा है और उनकी भावनाओं के साथ खिलवाड़ हो रहा है। प्रशांत भाटी ने बताया कि प्राधिकरण पर होने वाले महापडाव के क्रम में आज हमने सुबह इटेड़ा गांव में युवाओं की मीटिंग की जिसमें बड़ी संख्या में युवाओं ने भाग लिया और अपने अधिकारों के प्रति गंभीरता दिखाते हुए संकल्प लिया कि 12 सितंबर को प्राधिकरण के घेराव में युवाओं की बहुत बड़ी भागीदारी होगी।
आज के धरने में मुख्य रूप से वीर सिंह नगर रंगीलाल भाटी अजीत सिंह चतर सिंह हरेंद्र खारी निशांत रावल रणपाल मोहित यादव अमित बुधपाल यादव अरविंद प्रधान जयवीर बाबा तिलक देवी रामचंद्र भाटी सुरेंद्र यादव आदि सैकड़ो की संख्या में किसान मौजूद रहे। भवदीय, डॉक्टर रुपेश वर्मा, प्रवक्ता अखिल भारतीय किसान सभा, गौतम बुध नगर।

दिल में इश्क़े हुसैन, हांथों में तिरंगा लिए ज़ायरीन

दिल में इश्क़े हुसैन, हांथों में तिरंगा लिए ज़ायरीन

बृजेश केसरवानी
प्रयागराज। दिल में इश्क़े हुसैन हांथों में तिरंगा लेकर रवाना हुए ज़ायरीन। इराक़ के करबला शहर में रौज़ा ए मुक़द्दसा की ज़ियारत को प्रयागराज से प्रातः पांच बजे मौलाना सैय्यद रज़ी हैदर रिज़वी साहब क़िब्ला की क़यादत में उन्नीस ज़ायरीनों का क़ाफला निकला जो लखनऊ एयरपोर्ट से नजफ रवाना हुआ।वहीं डॉ क़मर आब्दी के कारवाने हैदरी से भी लगभग बीस सदस्य ज़ियारत को नजफ ए अशरफ पहुंच चुके हैं। उम्मुल बनीन सोसायटी के महासचिव सैय्यद मोहम्मद अस्करी के अनुसार शहर के साथ भारत के विभिन्न प्रान्तों और शहरों से कई हज़ार की संख्या में ज़ायरीन करबला ए मोअल्ला की सरजमीन पर पहुंचेंगे।वहीं एक आंकड़े के ऐतेबार से इस वर्ष करबला में दुनिया भर के मुल्कों से लगभग पांच करोड़ लोग करबला पहुंच चुके हैं और देशों से ज़ायरीनों की रवानगी अभी भी जारी है। एक अनुमान के मुताबिक़ इस वर्ष देश व दुनिया भर से आठ करोड़ लोगों के पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है। ज़्यादातर भारतीय महिलाएं हिजाब लगा कर तो वहीं पुरुष काले लिबास में नज़र आए।इस वर्ष डॉ नाज़ फात्मा भी ज़ायरीनों में शामिल रहीं ।दिल में इश्क़े हुसैन और हांथों में देश की आन बान शान तिरंगा भी साथ लहराते हुए क़ाफला रवाना हुआ।

एमबीबीएस के छात्र नहीं रख सकते टू व्हीलर

एमबीबीएस के छात्र नहीं रख सकते टू व्हीलर 

इकबाल अंसारी   
श्रीनगर। श्रीनगर के राजकीय मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने विगत दिवस देर रात एमबीबीएस छात्रों के साथ हुई मारपीट की घटना पर कड़ा एक्शन लिया है। कॉलेज प्रशासन ने बैठक कर निर्णय लिया गया कि छात्रों की सुरक्षा के मध्येनजर एमबीबीएस का कोई भी छात्र टू-व्हीलर नहीं रखेगा। इस संदर्भ में एडमिशन के दौरान छात्र व अभिभावकों द्वारा शपथ पत्र दिये भी गये थे, जिस पर तत्काल कार्यवाही की संस्तुति की गई। यहीं नहीं देर रात्रि हॉस्टलों से बाहर रहने वाले छात्रों को हास्टल व कक्षाओं से तीन माह निलम्बन की संस्तुति का निर्णय लिया गया। एमबीबीएस छात्रों के लिए हॉस्टलों में जो-जो नियम है, उन पर तत्काल प्रभाव से पालन कराने के निर्देश संबंधी चीफ वार्डन एवं वार्डनों, सुरक्षा कर्मियों को दिये गये।
विदित है कि विगत रात्रि श्रीनगर मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस छात्रों के साथ श्रीनगर घसिया महादेव के पास स्थानीय युवकों ने हमला कर दिया था। जिससे एमबीबीएस के एक छात्र पर धारदार हथियार से वार होने से छात्र घायल हो गया था। उक्त घटना के बाद मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीएमएस रावत जी के निर्देशन में प्रभारी प्राचार्य डा. निरंजन कुमार गुंजन ने मेडिकल कॉलेज में चीफ वार्डन, वार्डन एवं सुरक्षा कर्मियों के साथ बैठक आहूत की गई। जिसमें निर्णय लिया गया कि हॉस्टल की टाइमिंग के अनुसार बिना वार्डन को सूचित किये बैगर सुरक्षा गार्ड द्वारा छात्रों को बाहर जाने दिया, जिस सुरक्षा कर्मी द्वारा यह लापरवाही बरती गई, उसके खिलाफ कॉलेज प्रशासन ने निलम्बन की संस्तुति की गई। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीएमएस रावत जी ने कहा कि मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के दौरान एवं एडमिशन होने के बाद छात्र-छात्रों को पूरी गाइडलाइन का बराबर बताया गया है, इसके बाद भी कोई छात्र यदि देर रात्रि हॉस्टलों से बाहर जाते है, तो ऐसे छात्रों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी। छात्रों की सुरक्षा को देखते हुए मेडिकल कॉलेज के नियमों को छात्रों को अमल करना होगा। 
इसके लिए अभिभावकों व छात्र से शपथ पत्र भी लिया गया है। सभी छात्र छात्राओं, इन्टर्न व जूनियर/ सीनियर रेजिडेंट चिकित्सको द्वारा विवरणिका में हॉस्टल गाइडलाइंस का अक्षरशः पालन सुनिश्चित किया जाना है। अब प्रत्येक असिस्टेंट वार्डन, वार्डन व चीफ वार्डन को सतत् मानिटरिग के सख्त निर्देश सुनिश्चित करने को कहा गया है। किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-318, (वर्ष-06)

पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. शुक्रवार, सितंबर 1, 2023

3. शक-1944, श्रावण, शुक्ल-पक्ष, तिथि-दूज, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:06।

5. न्‍यूनतम तापमान- 21 डी.सै., अधिकतम- 33+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

गर्मी में 'गुलकंद' खाने के अनेक फायदे, जानिए

गर्मी में 'गुलकंद' खाने के अनेक फायदे, जानिए  सरस्वती उपाध्याय  बेहद सुंदर और सुगंधित फूल 'गुलाब' गुणों की खान है और इसकी पं...