सोमवार, 30 दिसंबर 2019

विरोधियों से बदला लेंगे योगीः प्रियंका

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पूरे देश में विरोध और समर्थन का दौर चल रहा है। इस बीच उत्तर प्रदेश में बीते हफ़्ते हुई हिंसा के बाद लगातार राजनीति गरमाई हुई है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने आज कांग्रेस मुख्यालय लखनऊ से प्रेस कॉन्फ्रेंस की है। प्रियंका गांधी ने कहा कि हमने राज्यपाल को एक चिट्ठी सौंपी है। हमने कहा है कि प्रदेश सरकार ने पुलिस की तरफ से अराजकता फ़ैलाने का काम किया है। योगी आदित्यनाथ के बयान को लेकर प्रियंका ने कहा कि ”योगी कहते हैं कि वो जनता से बदला लेंगे। पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने ऐसा बयान दिया।” उन्होंने कहा, ”बिजनौर में दूध लेने जा रहे लड़के की हत्या हुई। अस्पताल में सहायता नहीं दी गई, पुलिस ने दबाव डालकर घर के पास दफनाने से मना कर मोहल्ले से 20 किलोमीटर दूर दफनाया गया। 21 साल का सुलेमान यूपीएससी की तैयारी कर रहा था। कुछ दिनों के लिए घर आया था और मस्ज़िद के पास खड़ा था, तभी पुलिस उसे उठाकर ले गई। उसको गोली मारी गई थी। पुलिस ने दबाव डालकर मामला दर्ज नहीं करने दिया। प्रियंका गांधी ने कहा, ”लखनऊ में दारापुरी जी को उनके घर से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने नागरिकता कानून के ख़िलाफ़ फेसबुक पोस्ट लिखा था। उन्हें पुलिस घर से उठाकर ले गई और उनकी पत्नी बिस्तर पर बीमार पड़ी हैं। दारापुरी जी और कांग्रेस कार्यकर्ता सदफ ज़फ़र को 48 लोगों की लिस्ट में डाला गया। प्रियंका से पहले सलमान ख़ुर्शीद ने कहा कि ”जहां-जहां लोगों का उत्पीड़न किया गया है, उनको कांग्रेस सहयोग और समर्थन देगी। इसके लिए प्रियंका गांधी की मौजूदगी में बैठक की गई। कांग्रेस ने उत्पीड़न के शिकार लोगों के परिजनों तक पहुंचकर बहुत सी चीज़ें इकट्ठा की हैं। कई अज्ञात लोगों को एफआईआर में रखा गया है ताक़ि आगे चलकर जिसे चाहें उसे फंसा दिया जाए। हम इस मामले में दस्तावेजों के साथ हाईकोर्ट भी जायेंगे। हम दमन पर रोक लगाए जाने की उम्मीद करते हैं। प्रियंका ने कहा कि मुख्यमंत्री ने बदला लेने का जो बयान दिया, उसी पर पुलिस क़ायम है। ये इतिहास में पहली बार हुआ जब मुख्यमंत्री ने बदला लेने की बात कही है। कृष्ण भगवान का वेश है, भगवान राम करुणा के प्रतीक हैं, शिव जी की बारात में सब नाचते हैं। इस देश में बदले की कोई परंपरा नहीं है। श्री कृष्ण ने अपने प्रवचन में कभी बदले की बात नहीं की। उन्होंने कहा, योगी ने भगवा धारण किया, ये भगवा आपका नहीं हैं। भगवा देश की आध्यात्मिक आस्था का चिन्ह है। इसमें बदले की भावना की कोई जगह नहीं है।कांग्रेस महासचिव ने कहा, मेरी सुरक्षा का सवाल बड़ा सवाल नहीं है, इसपर चर्चा की ज़रूरत नहीं है। हम आम जनता का सवाल उठा रहे हैं। हेलमेट के सवाल पर कहा कि ये फ़िज़ूल की बात है। बड़े-बड़े मुद्दों में ये कौन सी बड़ी बात है, फाइन दे देंगे। उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून संविधान के ख़िलाफ़ है। खेतों में काम करने वाले मज़दूर से आप कागज़ात मांगेंगे तो वो कहां से दस्तावेज़ लायेंगे।


जिपं अध्यक्ष के सामने समस्याओं का अंबार

जिला पंचायत अध्यक्ष के सामने लगा फरियादियों का तांता


कौशाम्बी। प्रत्येक सोमवार की तरह इस सोमवार को अध्यक्षा जिला पंचायत श्रीमती अवधरानी ने अपने जिला पंचायत कार्यालय में जनसुनवाई की इस दौरान उनको 55 से अधिक लोगो ने अपनी समस्याएं रखी जिस पर कुछ शिकायतों पर  अध्यक्षा ने कुछ शिकायत के सम्बन्ध में फोन कर त्वरित समाधान के लिए निर्देशित किया तथा अन्य शिकायतो को सम्बन्धित सक्षम अधिकारियों को पत्र प्रेषित कर समस्याओं के निस्तारण की कार्यवाही की गयी, वि.ख.नेवादा के ग्राम घासीराम बसुहार से राजकुमार सिंह पुत्र जय सिंह शिकायती पत्र देते हुए अध्यक्षा से न्याय की गुहार लगाते हुए कहा कि मेरी भूमिधरी जमीन गाटा संख्या 421 पर न्यायालय उप जिलाधिकारी चायल के यहां मुकदमा चल रहा है फिर भी गांव के दबंग व्यक्ति द्वारा जबरन कब्जा कर रहे हैं और झगड़ा करते हैं जिस पर  अध्यक्षा ने पुलिस अधीक्षक कौशांबी को पत्र भेजकर कार्रवाई के लिए निर्देशित किया विकासखंड मंझनपुर के गनेशी लोधी ने पारिवारिक विवाद के चलते अध्यक्षा से शिकायत की जिस पर पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजा गया विकास खण्ड  सरसवा की ग्रामसभा चांदेराई से सरिता सिंह ने अध्यक्ष  से शिकायत की कि उनके पति की मृत्यु के उपरांत शासन द्वारा उनके परिवार को कोई आर्थिक मदद नहीं मिली जिस पर  अध्यक्षा ने जिला समाज कल्याण अधिकारी को पत्र के माध्यम से निर्देशित कर पीड़िता को परिवारिक लाभ के लिए कहा । ग्राम सेलहरा से बाकेलाल नाई जर्जर मार्ग पर खडंजा निर्माण के लिए शिकायती पत्र देकर मांग की। तथा विकास खण्ड. सरसवा के ग्राम चक बड़हरी के मोनू सिंह हरिश्चंद्र सिंह छोटू सिंह आदि लोगो द्वारा अवगत कराया कि आजादी के इतने सालों बाद भी उनके गांव के लिए कोई संपर्क मार्ग नहीं है जिस पर  अध्यक्षा  ने तुरंत विभागीय जांच कराकर सड़क निर्माण के लिए आश्वासन दिया इस मौके पर  अध्यक्ष जिला पंचायत प्रतिनिधि जगजीत सिंह,अश्विनी द्विवेदी सदस्य जिला पंचायत, विमल गुप्ता, हिमाशु जायसवाल, विवेक केशरवानी, घनश्याम सिंह,आशुतोष सिंह, दिनेश पाण्डेय,कमलेश सिंह, विकास सिंह,राहुल शुक्ला आदि लोग मौजूद रहे।


राजकुमार


 


तांबे के लोटे से करोड़ों की ठगी का मामला

मुंबई। महाराष्ट्र में धोखाधड़ी का एक अलग तरह का मामला सामने आया है। ठगों ने महाराष्ट्र के बाहर भी लोगों को अपना शिकार बनाया है। महाराष्ट्र क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने कहा कि पुलिस को किसी भी नेता, अभिनेता या व्यवसायी से कोई शिकायत नहीं की गई।


चार आरोपियों को अक्टूबर में कथित धोखाधड़ी के लिए गिरफ्तार किया गया था। ठग बहुत सारे लोगों के साथ तांबे का एक बड़ा धोखा देते हैं। इस लोटा की अधिकतम कीमत 500 रुपये होगी, लेकिन इसमें करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी हुई है। प्राचीन काल के कमल दिखाकर नेताओं, अभिनेताओं और व्यापारियों को धोखा दिया गया है।


कहते हैं के तांबे के लोटे में पानी रखने पर वो शुद्ध हो जाता है। यह हुई वैज्ञानिक बात, लेकिन तीन लोगों ने तांबे के लोटे को जादुई बताकर कुछ लोगों को 2-5 हजार में नहीं, लाखों में बेच दिया। ठगी का ऐसा ही एक मामला मुंबई पुलिस ने क्रैक किया है।


पकड़े गए तीनों ठग हैदराबाद के रहने वाले हैं। ठगों ने राइस पुलर(चावल खींचने वाला) लोटे के नाम पर एक बिजनेसमैन से 1.5 करोड़ रुपए ठग लिए थे। उन्होंने कारोबारी को झांसा दिया था कि यह लोट जब चावल के दाने को खींचता है, तो पैसा बरसता है। यानी एक मीटर तक खींचने पर 500 करोड़ और दो मीटर तक खींचने पर 1000 करोड़ रुपए मिलते हैं।ठगों ने बिजनेसमैन को बताया कि 'राइस पुलर जादुई लोटे' की जांच रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन के वैज्ञानिक से लैब टेस्टिंग कराई जाएगी। इस पर काफी खर्चा आता है। इसी बहाने बिजनेसमैन ने ठगों को डेढ़ करोड़ रुपए दे दिए। जब बिजनेसमैन को अपनी गलती का एहसास हुआ, तब वो पुलिस के पास पहुंचा। क्राइम ब्रांच ने आरोपियों के पास से फर्जी दस्घ्तावेज, कंपनी का लेटर हेड, चेक बुक, फर्जी आईडी, लैपटॉप आदि बरामद किया गया है।


योजना से प्रभावित किसानों का धरना जारी

आकांक्षु उपाध्याय


मंडोला-गाजियाबाद। मंडोला विहार योजना से प्रभावित किसानों का धरना जारी रहा।
ठंड की वजह से लोग मर रहे हैं हड्डी कपकपा देने वाली सर्दी में मंडोला विहार योजना से प्रभावित किसान खुले आसमान के नीचे दिन रात डटे हुए हैं माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अयोध्या में राम मंदिर के फैसले के बाद अधिकारियों की व्यस्तता व CAA एवं NRC के विरोध प्रदर्शनों में अधिकारियों की व्यस्तता के चलते धरनारत किसानों ने किसी अधिकारी से सुलभ शौचालय या अलाव आदि का आग्रह नही किया करीब दो महीनों से किसान सर्दी से बचने के लिए निजी तौर पर अलाव की व्यवस्था करके अपना काम चला रहे हैं जो कि हड्डी कपकपा देने वाली सर्दी में धरनारत किसानों को ठंड से बचाने के लिए पर्याप्त नही हो रहा है । प्रशासनिक अधिकारी गांधीवादी सत्याग्रहों की अनदेखी करते हैं यही कारण है  कि अहिंसावादी आंदोलन से लोगो का भरोसा टूट जाता है और किसी भी शांतिपूर्वक चल रहे आंदोलन में लोग हिंसा करने पर उतारू हो जाते हैं उन्हें लगता हैं यदि हम शांति पूर्वक धरने पर बैठेंगे तो कोई हम पर ध्यान नही देगा यह सोचना भी आज की प्रशासनिक व्यवस्था के हिसाब से सायद ठीक ही है।
 मंडोला विहार योजना से प्रभावित किसान मुआवजे सम्बन्धी अपनी मांगों को लेकर तीन वर्षों से धरने पर है सर्दी में भी रोजाना करीब 150 से 200 किसान व किसान परिवारो की महिलाएं धरने पर रहती हैं उनके लिए प्रशासन ने ऐसी कोई व्यवस्था नही की है जिससे अहिंसावादी आंदोलनों की तरफ लोगो का रुझान बढ़े धरनारत किसान खुले में सोच आदि करने को मजबूर हैं,सुलभ शौचालय वैन की व्यवस्था नही,पीने के पानी की कोई व्यवस्था नही ,सर्दी से बचने के लिए अलाव की कोई व्यवस्था नही है यदि अधिकारी शांतिपूर्वक एवं अहिंसावादी व गांधीवादी तरीको से किये जा रहे आंदोलनों की अनदेखी न करें ,उनकी मांगों पर सरकार का ध्यान आकर्षित करने व समाधान कराने में मध्यस्ता करें तो कोई भी आंदोलन उग्र नही हो सकता । 
जनप्रतिनिधियो व प्रशानिक अधिकारियों की अनदेखी के चलते धरनारत किसान अपना रोष प्रकट करने के लिए 2019 की विदाई और 2020 का स्वागत अर्धनग्न रहकर करेंगे आज धरने पर सैकड़ो महिला व पुरुष उपस्थित रहे।


द्रमुक ने सीएए-एनआरसी का किया विरोध

चेन्नई। नारेबाजी, तख्तियों, जुलूसों और बैठकों के बाद द्रविड़ मुनेत्र कड़कम (द्रमुक) नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनसीआर) के खिलाफ अब पारंपरिक तमिल कोलम (अल्पना) का उपयोग कर रही है। तमिलनाडु में कोलम को समृद्धि के प्रतीक के तौर पर हिंदुओं के घरों के बाहर चित्रित किया जाता है। कोलम को चावल के आटे से बनाया जाता है, ताकि उसे चीटियां खा सकें। द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन और उनकी बहन व राज्यसभा सदस्य कनिमोझी के साथ-साथ उनके दिवंगत पिता एम. करुणानिधि के आवास के बाहर कोलम बनाया गया, जिस पर लिखा था, 'सीएए-एनआरसी नहीं'। पुलिस द्वारा यहां बेसेंट नगर क्षेत्र में सीएए,एनआरसी और एनपीआर विरोधी कोलम बनाने पर छह महिलाओं को हिरासत में लेने के बाद द्रमुक प्रमुख ने यह कदम उठाया है। महिलाओं को बाद में रिहा कर दिया गया। कोलम ने राहगीरों को काफी आकर्षित किया, जिससे यातायात भी बाधित हुआ। अनुमति मांगने पर पुलिस ने ऐसे कोलम बनाने की मंजूरी नहीं दी। पुलिस कार्रवाई का विरोध करते हुए स्टालिन ने फेसबुक पर कहा कि अन्ना द्रमुक सरकार की मनमानी का एक और उदाहरण है, जिसमें भारतीय संविधान में उद्धत मूल अधिकारों से लोगों को वंचित किया जा रहा है।


शेयर बाजार में मामूली गिरावट की गई दर्ज

मुंबई। शेयर बाजार में सोमवार को मिला-जुला रुख रहा। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 17.14 अंकों की मामूली गिरावट के साथ 41,558.00 पर और निफ्टी 14.80 अंकों की मामूली तेजी के साथ 12,260.60 पर बंद हुआ। साल की समाप्ति से पहले छुट्टियों के बीच निवेशक बाजार में अधिक गतिविधियां नहीं कर रहे हैं। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान करीब 260 अंक के दायरे में घट बढ़ के बाद अंत में 17.14 अंक या 0.04 प्रतिशत की गिरावट के साथ 41,558 अंक पर बंद हुआ। दिन में कारोबार के दौरान सेंसेक्स 41,714.73 अंक के उच्चस्तर तक गया। इसने 41,453.38 अंक का निचला स्तर भी छुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 10.05 अंक या 0.08 प्रतिशत की बढ़त के साथ 12,255.85 अंक पर पहुंच गया। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप 0.75 प्रतिशत तक के लाभ में रहे। विश्लेषकों ने कहा कि बाजार में घरेलू मोर्चे से किसी बड़ी खबर का अभाव रहा। आगामी दिनों में निवेशकों की निगाह वाहन कंपनियों के मासिक बिक्री आंकड़ों तथा जीडीपी आंकड़ों पर रहेगी। अन्य एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई, हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में रहे। वहीं जापान का निक्की और दक्षिण कोरिया के कॉस्पी में गिरावट आई।


अब्दुल्लाह और महबूबा अभी भी नजरबंद

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने पिछले चार महीनों में हिरासत में रखे गए पांच राजनीतिक नेताओं को रिहा कर दिया है। सोमवार को जिनकी रिहाई हुई, उनमें दो पीडीपी के, दो नेशनल काफ्रेंस और एक निर्दलीय पूर्व विधायक शामिल हैं। इन पांचों को जम्मू-कश्मीर में विशेष राज्य का दर्जा छीनने वाले अनुच्छेद 370 के अगस्त में लागू होने के बाद सुरक्षा कारणों से हिरासत में ले लिया गया था, जबकि सोमवार को इन्हें रिहा किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक रिहा किए गए नेताओं में इशफाक जब्बार,गुलाम नबी भट, बशीर मीर,जहूर मीर और यासिर रेशी हैं। इन नेताओं को तो रिहा कर दिया गया,मगर नेशनल कॉफ्रेंस अध्यक्ष फारूख अब्दुल्ला और पीडीपी चीफ व जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती अभी भी नजरबंद हैं।


लड़कियों का बाहर निकलना हुआ दुश्वार

बिलासपुर। जिला के दायरे में आने वाला उपमंडल धुमारवीं के एक पंचायत में बिते दिन शाम को एक युवती मशीन से आटा लाने गई थी इस दौरन तीन युवकों ने उसे साथ छेड़छाड़ कर दी यह मामला आज प्रकाशन में आया तो इस संबंध में जब युवती ने पुलिस के पास मामला दर्ज करवाय तो पुलिस ने शिकायत के अधार पर तीनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। मिली जानकारी के अनुसार जब बिते दिन शाम के युवती अपनी स्कूटी को लेकर कुछ दूरी पर स्थित आटा मशीन से आटा लाने गई तो बीच रास्ते में तीन युवकों ने स्कूटी को रोकर लड़की के साथ बदतमीती की गई। युवती ने पुलिस शिकायत में एक युवक की पहचान बताई है। बाकी दो को नहीं जानती है। मामले की पुष्टी करते हुए डीएसी राजेंद्र कुमरा जसवाल ने बताया कि पुलिस हर पहलू को ध्यान में रखकर छानबीन कर रही है।


दुकानदार से पैसे मांगने पर दी दर्दनाक मौत

कांगड़ा। जिला के पुलिस थाना फतेहपुर के दायरे में आने वाला पंजाब से सेट खटियाड़ क्षे में पिछले कल शाम को ढाबे पर ग्राहक से पेसे मांगने के बदले बुजुर्ग मालिक को दर्दनाक मौत मिल गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते दिन शाम को सेट पंजाब के हीजीपुर क्षेत्र के युवक खटियाड़ में मछली खाने पहुंचे थे। इस दौरान मछली खाने के बाद दुुकानदार ने पैसे मांगे तो उसके साथ हाथा पाई करने लगे। और गाड़ी स्टार्ट कर भागने लगे। एसे में बुजुर्ग दुकानदार उनके पीछे भाग गया बुजुर्ग का पीछे भागता देख उन्होंने रिवर्स की और उसे रौंद दिया कुछ देर में ही बुजुर्ग की मौत हो गई। 
बुजुर्ग की पहचान 70 वर्षीय धनी राम के रूप में हुई है। फतेहपुर के थाना प्रभारी सुरेश शर्मा ने बताया पंजाब के हाजीपुर क्ष्रेत्र के करीब पांच लोग उक्त गाड़ी में सवार थे। उन्होंने बताया पुलिस ने गाड़ी को हाजीपुर से बरामद कर लिया है। और पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।


महिला ने कर्नल पर दुष्कर्म का लगाया आरोप

देहरादून। उत्तराखंड के राजपुर में एक महिला ने कर्नल पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है। महिला का आरोप है कि कर्नल ने पहली बार शराब पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया फिर शादी का झांसा देकर अलग-अलग स्थानों पर दुष्कर्म किया। महिला ने मामले की शिकायत दिल्ली पुलिस से की लेकिन उन्होंने घटनास्थल देहरादून के राजपुर में होने के चलते जीरो एफआईआर दर्ज कर मामला जांच के लिए देहरादून ट्रांसफर कर दिया है। राजपुर थाने की पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार केस दर्ज कराने वाली महिला शादीशुदा है और उसका पति भी सेना में है। पति के दिल्ली में तैनाती के दौरान महिला का परिचय कर्नल आरके स्वन से हुआ और धीरे-धीरे दोनों में दोस्ती हो गई। महिला ने बताया कि गत फरवरी कर्नल स्वन उसे देहरादून लेकर आया। वह उसे देहरादून में राजपुर रोड पर स्थित एक होटल में ले गया जहां पर उसने महिला को शराब का सेवन करवाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। होश में आने पर महिला ने विरोध किया तो कर्नल ने उससे शादी का झांसा दिया। इसके बाद कर्नल ने महिला के साथ अलग-अलग स्थानों पर शारीरिक संबंध बनाए। कुछ समय बाद जब महिला को कर्नल की बातों पर शक होने लगा तो उसने पुलिस में शिकायत कर दी। राजपुर थाने की पुलिस ने उच्चाधिकारियों के निर्देश पर क्राइम नंबर पर मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। राजपुर थानाध्यक्ष अशोक राठौड़ ने बताया कि उच्चाधिकारियों के निर्देशन में मामले की जांच चल रही है।


बीजेपी का बड़े नेताओं का नहीं है तालमेल

शिमला। सिटीजन एक्ट और नागरिक संशोधन एक्ट कांग्रेस का भी एजेंडा रहा है। कांग्रेस ने इसे धर्म के आधार पर लागू नहीं करना था, बल्कि इसे संविधान के मुताबिक लागू करने की मंशा थी, लेकिन मोदी सरकार ने इसे धर्म आधारित कर दिया। बीजेपी धर्म को आधार बना कर देश में अलग तरह का सियासी माहौल पैदा कर रही है, जो देश के सामने बड़ा खतरा है। यह बात ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने मीडिया से बातचीत में कही। उन्होंने कहा कि एनआरसी  पर बीजेपी के दोनों बड़े नेताओं का तालमेल नहीं है। पीएम नरेंद्र मोदी कुछ बयान देते हैं। गृह मंत्री और कानून मंत्री अलग जानकारी दे रहे है। उन्होंने कहा कि देश में पिछले कुछ दिन से एक गुस्सा और तनाव का माहौल बना हुआ है। इस गलतफहमी और गुस्से के माहौल के बीच इसके कारणों का खुलासा करने के लिए कांग्रेस प्रवक्ता देश भर में जनता को जागरूक करने का काम कर रहे हैं। पवन खेड़ा में साफ किया कि कांग्रेस सरकार के वक्त में इस विषय पर प्रशासनिक अधिकारियों के एक समूह ने अपनी रिपोर्ट में सरकार को इस विषय को स्थगित किए जाने का अग्रह किया था, जिसे मनमोहन सरकार ने नहीं किया। जबकि तत्कालीन अटल सरकार के समय में 2003 में एक अधिसूचना जारी की गई थी, जिसमें एनआरसी करने के आदेश दिए गए थे, लेकिन आज बीजेपी नेताओं का यह कहना कि यह केवल कांग्रेस का किया हुआ काम है। पवन खेड़ा ने कहा कि इस देश में कुछ लोगों की सनक के लिए देश को बर्बादी को तरफ नहीं झोंका जा सकता है। यह देश किसी एक का नहीं है, ये देश सभी का है और देश संविधान से ही चलेगा। कांग्रेस ने केवल असम में ही एनआरसी की बात कही थी, पूरे देश में नहीं। सत्ता में आने पर इस विषय में जो ज़रूरी बदलाव करने होंगे कांग्रेस करेगी। इसे धर्म के आधार पर किसी भी हाल में नहीं होने दिया जाएगा।


एक करोड़ की ठगी करने वाला गिरफ्तार

चंबा। जिला पुलिस ने करीब एक करोड़ की ऑनलाइन ठगी करने के आरोपी को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। आरोपी के खिलाफ 26 दिसंबर को पुलिस थाना सदर चंबा में भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। आरोपी ने शिकायतकर्ता को फ़ोन के माध्यम से बीमा पॉलिसियों में निवेश करने के नाम पर पिछले कुछ वर्षों की अवधि में एक नकली फर्म के विभिन्न बैंक खातों में पैसे जमा करवाने को कहा था। पीड़ित ने कुल 93 लाख रुपए जमा भी करवा दिए। इसके बाद धोखाधड़ी होने का आभास होने पर पीड़ित ने सदर थाना में शिकायत दर्ज करवाई।


शिकायत पर त्वरित कार्रवाई करते पुलिस अधीक्षक चंबा  ने एसआईयू टीम का गठन किया। जिस पर पुलिस दल ने नोएडा से एक आरोपी कुणाल कौशिक को गिरफ्तार किया। आरोपी से 7 एटीएम कार्ड, 21 चेक बुक, एक लैपटॉप को फर्जी चेक और पावती रसीदों के डेटा के साथ बरामद किया है। इसके अलावा आरोपी से 12 मोबाइल फोन, 81,000 रुपए की नकदी और 2 कारों स्विफ्ट और फ़ॉर्चुनर को भी जब्त कर लिया गया है। पुलिस ने आरोपी के विभिन्न बैंकों में लगभग 18 लाख रुपए की राशि वाले खातों को भी सीज कर दिया गया है। पुलिस इस मामले में दो अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है। जो पहले सोलन पुलिस ने इसी तरह के मामले में पकड़े थे और अब जमानत पर हैं।


पानी की सप्लाई देने का तैयार होगा प्लान

शिमला। राजधानी में शहर के लोगों को नए साल के तोहफे के रूप में 24 घंटे पीने के पानी की सप्लाई देने का प्लान तैयार किया गया है। यह प्लान 396 करोड़ की विश्व बैंक की मदद से बनाया गया है। जो कि शहर में पानी के वितरण पर खर्च किए जाएंगे। इसके अलवा शहर के लोगों को पानी की किसी भी तरह की शिकायत के लिए मुख्य कार्यालय के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। विभाग लोगों की समस्या को वार्ड स्तर पर ही सुलझाएगा। इसके लिए अधिकारियों को अधिकृत किया गया है। यह जानकारी शिमला जल प्रबंधन बोर्ड के अतिरिक्त महाप्रबंधक विजय गुप्ता ने दी है। बता दें कि शहर में इस समय 35 हजार से ज्यादा पानी के उपभोक्ता कनेक्शन हैं। 
पानी और सीवरेज के लिए ऑफलाइन आवेदन नहीं लेगा। उपभोक्ताओं को ऑनलाइन सिस्टम से जुड़कर पानी और सीवरेज के लिए ऑनलाइन आवेदन करना होगा। शिमला जल प्रबंधन बोर्ड के अतिरिक्त महाप्रबंधक विजय गुप्ता ने दावा किया कि इस बार गर्मियों में शहर के लोगों को पानी की किल्लत नहीं होने दी गई। उन्होंने कहा कि नई परियोजनाओं के शुरू होते ही शहर में उपभोक्ताओं को 24 घंटे पीने का पानी उनके घरों में उपलब्ध होगा। विजय गुप्ता ने बताया कि पहली जनवरी से उपभोक्ताओं को पानी की किसी भी तरह की शिकायत के लिये मुख्य कार्यालय के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। अब वार्ड स्तर पर ही लोगों की समस्याओं के लिए बोर्ड के अधिकरियों को इसके समाधान के लिए अधिकृत किया गया है।


संशोधन एक्स का, को देशो में फैला रही है

शिमला। हिमाचल बीजेपी के प्रभारी रहे वरिष्ठ अधिवक्ता सतपाल जैन ने नागरिक संशोधन एक्ट (CAA) को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है। यहां पत्रकारों से बातचीत में सतपाल जैन ने कहा कि कांग्रेस नागरिक संशोधन एक्ट (CAA) को लेकर देश भर में दुष्प्रचार फैला रही है। कांग्रेस पार्टी नागरिकता खो जाने का झूठ देश भर में फैला रही है, देश में भय का माहौल खड़ा कर सत्ता की गोटियां फिट कर रही है। सतपाल जैन ने कहा कि संसद ने अनुच्छेद 11 में बदलाव कर इन शरणार्थियों को घुसपैठ करने वाला नहीं, बल्कि अब 11 साल के बजाए 5 साल से रह रहे शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रावधान किया है। बाकी देश की जनता का इस कानून से कोई लेना देना नहीं है। ना ही इसका उनके ऊपर कोई असर होगा।


एनसीआर (NCR) व एनपीआर (NPR) का CAA से कोई लेना देना नहीं है। किसी भी भारतीय को देश से नहीं निकाला जाएगा, ना ही किसी को डरने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि देश के बंटवारे के वक़्त कई हिंदू, बौद्ध, सिख व जैन पाकिस्तान में रह गए। इसको लेकर भारत-पाक के बीच समझौता हुआ कि दोनों देशों में अल्पसंख्यकों को तंग नहीं किया जाएगा। बावजूद इसके तंग करने की स्थिति आती है तो एक दूसरे के देश में आ सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पाक, बंग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार शुरू हो गए। जो 23 फीसदी अल्पसंख्यक वहां थे, वह 3 फ़ीसदी रह गए। बाकी बचे शरणार्थी भारत वापस आए। उन्हीं को नागरिकता देने की बात सरकार कर रही है।


बोर्ड एग्जाम फीस भरेगी दिल्ली सरकार

नई दिल्ली। देश की राजधानी में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। केजरीवाल सरकार ने बोर्ड एग्जाम की फीस अपनी तरफ से भरने का निर्णय लिया है। यह सुविधा सिर्फ सरकारी स्कूलों के छात्रों के लिए है। प्रदेश सरकार एनडीएमसी और कैंट क्षेत्र में आने वाले सरकारी स्कूलों की फीस भी देने का फैसला किया है। कैबिनेट की बैठक में इस पर मुहर लगा दी गई है। ऐसे में सरकारी स्कूलों के छात्रों को परीक्षा फीस नहीं देनी पड़ेगी।
सीएम केजरीवाल ने कहा कि गणित विषय में बच्चों के कम नंबर आते हैं, इसके लिये अगर जरूरत पड़ी तो गणित की कोचिंग भी दी जाएगी। 11वीं और 12वीं के बच्चो को 1000 रूपये प्रति बच्चा देंगे ताकि वे नौकरी के साथ-साथ बिजनेस के लिए भी सोच सकें।
सीएम केजरीवाल ने बताया कि एक सेफ्टी पिन नाम के एनजीओ ने साल 2016 में दिल्ली के डार्क स्पॉट्स को लेकर एक सर्वे किया था। जिसमें पाया गया था कि दिल्ली में 7 हजार 438 डार्क स्पॉट्स हैं। इसके बाद साल 2019 में फिर से इस एनजीओ ने सर्वे किया। ये सर्वे जनवरी से मई 2019 के बीच किया गया। सर्वे में सामने आया कि दिल्ली में केवल 2 हजार 768 डार्क स्पॉट्स रह गए हैं।


राजधानी में स्ट्रीट लगाने का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, दिल्ली कैंट एरिया में भी बिजली की सब्सिडी मिलेगी जो कि पहले रह गयी थी। दो लाख 10 हजार स्ट्रीट लाइट्स लगेंगी, वो आज से जितनी स्ट्रीट लाइट की जरूरत पड़ेगी हम लगायेंगे। लोग अपने घरों से स्ट्रीट लाइट के लिये कनेक्शन दे सकते हैं, जिसका पूरा बिल दिल्ली सरकार देगी। आज शाम को मैं कहीं जाकर उद्घाटन करूंगा। यह काम चार महीने मे पूरे हो जाएगा। अकेले जनवरी माह में ही 50 हजार स्ट्रीट लाइट्स लग जायेंगी।


विजिबिलिटी हुई शून्य, बढ़ेगी अभी ठंड

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली सहित पूरे उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। कई इलाकों में घना कोहरा छाया हुआ है। मौसम विभाग का कहना है कि दिल्ली-एनसीआर में विजिबिलिटी शून्य हो गई है। वहीं, आज लोधी रोड पर 2.2 डिग्री और आया नगर में 2.5 डिग्री तापमान रिकॉर्ड किया गया है। घने कोहरे का असर फ्लाइट्स और रेलवे पर भी पड़ा।


लो विजिबलिटी के चलते उत्तर रेलवे की 30 ट्रेनें देरी से चल रही हैं। वहीं, दिल्ली एयरपोर्ट पर 50 फ्लाइट्स की उड़ान पर असर पड़ा है। हालांकि अभी कोई भी फ्लाइट अभी तक कैंसिल नहीं की गई हैं। सर्द हवाएं खासतौर पर रेल यात्रियों के लिए मुश्किलें खड़ी कर रही हैं। स्टेशनों पर यात्री खासे परेशान दिखे।


मौसम विभाग ने ठंड के मद्देनजर रविवार को आठ राज्यों में रेड अलर्ट जारी किया। पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान और मध्यप्रदेश में भीषण सर्दी को लेकर चेतावनी जारी की गई।


दिल्ली में रविवार को न्यूनतम तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। लोधी रोड में 2.8 डिग्री सेल्सियस, पालम में 3.2 डिग्री और सफदरजंग में 3.4 डिग्री तापमान दर्ज हुआ। घने कोहरे के कारण शहर में दृश्यता कम हुई और इसने हवाई यातायात और वाहनों के आवागमन पर प्रभाव देखा गया।
मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली में सोमवार से हवा की दिशा बदलने का अनुमान है। ऐसे में दिल्लीवासियों को शीतलहर से थोड़ी राहत मिल सकती है।


मनजोत कालरा पर 2 साल का बैन लगा

नईदिल्ली। अपनी उम्र में धोखाधड़ी करने पर अंडर-19 वर्ल्ड कप चैंपियन मनजोत कालरा पर दिल्ली क्रिकेट के लोकपाल ने उन पर एज ग्रुप टूर्नामेंट में 2 साल का बैन लगा दिया है। बता दें कि मनजोत कालरा ने भारत को पिछले साल अंडर-19 वर्ल्ड कप खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। वहीं भारत को सबसे बड़ा झटका शिवम मावी के रूप में लग सकता है। उम्र धोखाधड़ी मामले में उनका मामला आगे बीसीसीआई को भेज दिया गया है।
मनजोत कालरा पिछले साल हुए अंडर-19 वर्ल्ड कप के खिताबी मुकाबले में मैन ऑफ द मैच रहे थे। उन्होंने फाइनल में विजयी शतक जड़ा था। इसी साल जून में दिल्ली पुलिस की एक विशेष जांच यूनिट ने कालरा के माता-पिता पर चार्जशीट दाखिल की थी।
उन पर आरोप लगाया गया था कि जूनियर क्रिकेट खिलाने के लिए उन्होंने मनजोत की जन्मतिथि 1999 बताई। जबकि खबरों के अनुसार कालरा की असली जन्मतिथि 15 जनवरी 1998 है ना कि 15 जनवरी 1999। हालांकि जब यह मामला उठा था तो उस समय मनजोत बालिग नहीं थे कि उन पर एफआईआर दर्ज की जाए, इसीलिए चार्जशीट में उनके पिता प्रवीण कुमार और माता रंजीत कौर का नाम लिखा गया।
शिवम मावी पर भी संकट के बादलभारत को चौथी बार अंडर-19 वर्ल्ड कप दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले शिवम मावी पर भी संकट के बादल मंडरा रहे है। मावी टीम इंडिया का भविष्य माना जाता है। मगर उम्र धोखाधड़ी में फंसने के बाद उन्हें बड़ा झटका लग सकता है। 21 साल के शिवम मावी ने छह फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं। जिसमें उन्होंने 115 रन बनाने के साथ ही 25 विकेट भी लिए हैं। जबकि 16 लिस्ट ए क्रिकेट में 74 रन बनाने के साथ ही 22 विकेट लिए। वहीं 9 टी20 मैच में 13 रन बनाने के साथ ही पांच विकेट भी लिए। वहीं केकेआर के दूसरे खिलाड़ी नीतीश राणा भी उम्र धोखाधड़ी के मामले में फंसे हैं। इस खिलाड़ी को अपनी जन्मतिथि से जुड़े पेपर जमा करने के लिए कहा गया है। अगर वो गलत पाई जाती है तो नीतीश राणा पर भी कार्रवाई हो सकती है।


फुटबॉल से संन्यास के बाद अभिनय करूंगा

दुबई। फुटबॉल सुपरस्टार क्रिस्टीयानो रोनाल्डो ने कहा है कि वह फुटबॉल से संन्यास लेने के बाद एक्टिंग में हाथ आजमाना चाहते हैं। दुबई इंटरनैशनल स्पोर्ट्स कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेने पहुंच रोनाल्डो ने कहा, 'मैंने अपने लिए कुछ लक्ष्य तय किए हैं और उनमें से एक है, फिल्मों में काम करना।


इटली के फुटबॉल क्लब युवेंटस के लिए खेलने वाले दुनिया के महानतम फुटबॉल खिलाडिय़ों में से एक रोनाल्डो वह अभी कुछ समय तक खेलना चाहते हैं और फिर फुटबॉल को अलविदा कहने के बाद वह अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं। रोनाल्डो ने 2018 में युवेंटस के साथ करार करने से पहले स्पेनिश क्लब रियल मैड्रिड के साथ तीन बार चैंपियंस लीग खिताब जीता। वह पांच बार बालोन डी ओर पुरस्कार जीत चुके हैं।


एसबीआई ने मानक अनुरूप ब्याज दर घटाई

मुंबई। देश के सबसे बड़े वाणिज्यिक बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने कर्ज के लिए बाह्य मानकों पर आधारित अपनी ब्याज दर (ईबीआर) को 0.25 प्रतिशत कम कर 7.80 प्रतिशत करने की सोमवार को घोषणा की। अभी यह दर 8.05 प्रतिशत थी। नयी दर पहली जनवरी 2020 से प्रभावी होगी।बैंक के इस निर्णय से उसके आवास ऋण पर ब्याज कम हो जाएगा और उससे ईबीआर के आधार पर कर्ज लेने वाले सूक्ष्म, लघु और मझोले उद्यमों पर भी ब्याज के बोझ में प्रति सैकड़ा 25 पैसे की कमी हो जाएगी।


बैंक नए आवास रिण वार्षिक 7.90 प्रतिशत की दर से पेश करेगा। अब तक यह दर 8.15 प्रतिशत थी। भारतीय रिजर्व बैंक के निर्देशों के अनुसार, भारतीय स्टेट बैंक ने पहली अक्टूबर 2019 से ईबीआर आधारित ब्याज की व्यवस्था लागू की है। बैंक ने इसके तहत 1 अक्टूबर 2016 से सूक्षम, लघु और मझोले उद्यमों, आवास खरीदारों तथा खुदरा ग्राहकों के लिए परिवर्तनशील दर पर लिए गए कर्जों का ब्याज रिजर्व बैंक की रेपो दर में घट बढ़ के आधार पर समायोजित करने का निर्णय लागू किया है। इसके तहत बैंक तीन माह एक बार अपने कर्ज की ब्याज दरों को समायोजित कर सकते हैं।भारतीय रिजर्व बैंक ने इस वर्ष फरवरी से कुल मिला कर रेपो दर 1.35 प्रतिशत कम की है। लेकिन बैंक उसका लाभ ग्राहकों को देने में धीमे रहे हैं। उनकी ओर से ब्याज में औसतन 0.44 प्रतिशत की ही कटौती की गयी है।


वयोवृद्ध अन्ना हजारे फिर बैठे मौन व्रत पर

मुंबई। वयोवृद्ध गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे निर्भया गैंगरेप और हत्याकांड के दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने की मांग को लेकर मौन व्रत पर बैठ गए हैं। इस बाबत उन्होंने इस बाबत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी भी लिखी है। अन्ना हजारे ने बताया कि उन्होंने अपने गांव रालेगासिद्धी में 20 दिसंबर से ही मौन व्रत पर हैं। बता दें कि निर्भया कांड के एक दोषी ने फांसी की सजा को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन दायर की थी, जिसे शीर्ष अदालत ने ठुकरा दिया।


इसके बाद सभी चारों दोषियों के वकील ने इस मामले में क्यूरेटिव पिटीशन दायर करने की बात कही है। इसके पास सभी दोषियों के पास राष्ट्रपति के पास मर्सी पिटीशन (दया याचिका) दाखिल करने का विकल्प भी बचा है। अन्ना हजारे ने पीएम मोदी को भेजी गई चिट्ठी में लिखा, मैंने आपको (पीएम मोदी) 9 दिसंबर 2019 को पत्र लिख कर देश में बढ़ रहे महिला अत्याचार और न्याय मिलने में अदालती प्रक्रिया में विलंब की बात बताई थी। दुर्भाग्य से कहना पड़ रहा है कि आज तक उसका कोई जवाब नहीं मिला।


इसलिए स्मरण दिलाने हेतु दूसरा पत्र लिख रहा हूं। निर्भया कांड को सबसे पहले निचली अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी उसके बाद दोषियों ने हाई कोर्ट में इसे चुनौती दी थी। उच्च न्यायालय से अर्जी खारिज होने के बाद सभी दोषियों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। वहां से भी इनकी याचिका खारिज हो गई थी। इसके बाद इनमें से एक दोषी अक्षय कुमार ने शीर्ष अदालत में रिव्यू पिटीशन दाखिल की थी, जिसे ठुकरा दिया गया। अदालती प्रक्रिया में घटना को सात साल बीत चुके हैं।
सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने पीएम को लिखी चिट्ठी में स्पष्ट तौर पर कहा है कि निर्भया गैंगरेप और हत्या के दोषियों को सजा होने तक वह मौन व्रत पर ही रहेंगे। उन्होंने इस चिट्ठी की प्रति गृहमंत्री, कानून मंत्री और सभी राजनीतिक दलों को भी भेजा है। अन्ना हजारे ने अपनी चिट्ठी में 14 अन्य मांगें भी की हैं।


बाइक सवार युवकों को पिकअप ने रौंदा

फतेहगंज। दो बाइक सवार युवकों को पिकअप ने रौंद दिया जिसके चलते दोनों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। थाना जहानाबाद के अंतर्गत न्याय पंचायत अकबरपुर नसीरपुर के पोजेपुर निवासी अश्वनी कुमार पुत्र जगतपाल सोनकर 22 वर्षीय एवं दीपक पुत्र बाबू चंद्र सोनकर 23 वर्ष रविवार की दोपहर बाद अपनी बाइक से अमौली मेला देखने जा रहे थे तभी अमौली मार्ग में कोल्ड स्टोर के पहले मेला ग्राउंड के समीप अमौली की ओर से आ रही तेज रफ्तार पिकअप ने जोरदार टक्कर मार दी जिससे दोनों युवकों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घटना की सूचना पाते ही थाना पुलिस सहित भारी संख्या में कस्बे वासी व परिजन वहां जा पहुंचे पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। बताते चलें कि बाबू चंद के चार पुत्रों में तीन पुत्रों सोनू, अमित, एवं दीपक की मौत मार्ग दुर्घटना में हो चुकी है।दो की मौत के बाद पोजेपुर सहित नगर में शोक की लहर दौड़ गई मृतकों की मां और पारिवारिक जनों का रो-रोकर बुरा हाल था।


सतेंदर यादव


धार्मिक जुलूस में 50 सिखों पर मामला

पीलीभीत। उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में कीरतपुर गुरुद्वारा से एक धार्मिक जुलूस निकालने पर लगभग 55 सिख श्रद्धालुओं के खिलाफ सीपीसी की धारा 144 के तहत मामला दर्ज किया गया है। ये श्रद्धालु गुरु गोविंद सिंह के बच्चों की शहादत की याद में शहीदी दिवस मना रहे थे। प्राथमिकी में पांच लोगों को नामजद और 50 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।


 पुलिस ने कहा कि यह जुलूस प्रशासन की अनुमति के बिना निकाला गया था, जिसके कारण धारा 144 के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया। इस धारा के अंतर्गत एक स्थान पर चार या इससे ज्यादा लोगों के इकट्ठे होने पर प्रतिबंध होता है। पुलिस ने जुलूस में शामिल केसरिया झंडों वाली एक कार को भी जब्त कर लिया। स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) संजीव कुमार उपाध्याय के अनुसार, श्रद्धालुओं पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 (लोकसेवक के आदेश की अवज्ञा) के तहत मामला दर्ज किया गया है।


खेरी नौबरामद गांव के प्रधान रंजीत सिंह ने हालांकि कहा कि उन्होंने कालीनगर तहसील के उप जिला अधिकारी हरिओम शर्मा से अनुमति मांगी थी, लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया. उन्होंने कहा, “श्रद्धालु यह सोच रहे थे कि वे बिना कोई अव्यवस्था फैलाए सिर्फ शांतिपूर्वक धार्मिक जुलूस निकाल रहे थे। हालांकि पुलिस की कार्रवाई दुर्भाग्यपूर्ण है। जुलूस में महिलाएं और बच्चे भी बड़ी संख्या में मौजूद थे।”दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा को मामले से अवगत कराया गया है और उन्होंने पुलिस कार्रवाई की निंदा की है।


ममता ने की थी संशोधन विधेयक की मांग

नई दिल्ली। नागरिकता कानून को लेकर जहां लोग सड़कों पर उतर रहे हैं वहीं कई यूनिवर्सिटी के छात्रों ने भी इसके खिलाफ अपनी आवाज उठाई है। इसी बीच रविवार को मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि केंद्र सरकार किसी भी कीमत पर राजनीति के हब में बदलते शैक्षणिक संस्थानों को बर्दाश्त नहीं करेगी।
उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को राजनीतिक गतिविधियों में शामिल होने की इजाजत है लेकिन कॉलेज और यूनिवर्सिटियों को इससे बाहर रहना चाहिए क्योंकि बहुत से छात्र पढ़ाई करने के लिए सूदूर स्थानों से आते हैं। उन्होंने कहा, 'नरेंद्र मोदी सरकार इसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेगी।' जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली विश्वविद्यालय, जादवपुर विश्वविद्यालय और प्रेसीडेंसी विश्वविद्यालय सहित देश भर के विश्वविद्यालयों के हजारों छात्रों ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध किया है। पोखरियाल ने विपक्षी दलों पर सीएए पर जानबूझकर गलत सूचना फैलाने का आरोप लगाया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'यह कांग्रेस है जो धार्मिक आधार पर देश के विभाजन के लिए जिम्मेदार है। वह सीएए के बारे में गलत सूचना फैला रही है।' नागरिकता कानून का विरोध करने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि टीएमसी सुप्रीमो ने 2005 में सांसद रहते हुए राज्य में अवैध प्रवासियों के खिलाफ प्रदर्शन किया था। उन्होंने कहा, 'ममता ने तब नागरिकता संशोधन विधेयक लाने की मांग की थी।' नई शिक्षा नीति जिसपर काम चल रहा है उसके बारे में पोखरियाल ने कहा कि इसे देश के मूल्यों के साथ जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा, 'नई शिक्षा नीति, जिसे 33 सालों के बाद लाया जा रहा है भारत केंद्रित होगी और इसे देश के मूल्यों के साथ जोड़ा जाएगा।' पोखरियाल ने कहा कि देश की शिक्षा को ज्ञान, विज्ञान और जांच के जरिए आगे बढ़ाया जाएगा। उन्होंने पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के धार्मिक अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने के केंद्र के फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि ये देश 'धर्मनिरपेक्ष नहीं' हैं। मंत्री ने कहा कि विभाजन के दौरान धार्मिक अल्पसंख्यकों- जिनमें हिंदू, बौद्ध, सिख, जैन और ईसाई शामिल हैं वह पाकिस्तान की आबादी का 23 प्रतिशत थे लेकिन वर्तमान में यह आंकड़ा 'लगभग 3 प्रतिशत' है।


आरोपी ने ट्रेन का सामने कूदकर की आत्महत्या

हरदा। मध्य प्रदेश पुलिस की लापरवाही एक बार फिर उजागर हुई है। हरदा  में पुलिस की गिरफ्त से छूटकर भागे दुष्कर्म के आरोपी ने ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। सिराली थाना पुलिस आरोपी संतोष कोरकू को कोर्ट में पेश करने के लिए हरदा लेकर आ रही थी। रास्ते में मसनगांव रेलवे फाटक पर आरोपी ने ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली।मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। पुलिस आरोपी को शासकीय वाहन के बजाये बाइक पर लेकर आ रही थी. आरोपी के परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाकर कार्रवाई की मांग की है।दुष्कर्म का आरोपी था कैदी दुष्कर्म के आरोपी संतोष कोरकू के ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या कर लेने को स्थानीय लोग भी पुलिस की लापरवाही बता रहे हैं। बताया गया कि सिराली थाने में नाबालिग लड़की की गुमशुदगी और अपरहण का मामला दर्ज हुआ था. इस मामले में पुलिस ने खंडवा निवासी संतोष को शनिवार को गिरफ्तार किया था। रविवार को दो पुलिसकर्मी सरजू और सुमित आरोपी संतोष को कोर्ट में पेश करने के लिए बाइक से ले हरदा ले जा रहे थे। रास्ते में मसनगांव रेलवे फाटक बंद था, इसलिए पुलिसकर्मियों ने बाइक रोकी। रेलवे फाटक खुलने से पहले ही अचानक आरोपी बाइक से कूदकर भागा और वहां से गुजर रही पुणे-गोरखपुर एक्सप्रेस ट्रेन के आगे कूद गया। जिससे आरोपी संतोष की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद पहुंचे आला अफसर रेलवे फाटक पर कैदी की आत्महत्या की खबर मिलने पर पुलिस विभाग के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। इधर, जिला अस्पताल में मौजूद मृतक के परिजनों ने पुलिसकर्मियों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा मचाया। संतोष की बहन पार्वती ने कहा कि पुलिस थाने से उन्हें इस बात की सूचना नहीं दी गई थी कि रविवार को ही उनके भाई को कोर्ट ले जाया जा रहा है। पुलिस ने परिजनों को सोमवार को आरोपी को अदालत में पेश करने की बात कही थी। परिजनों ने संतोष को बाइक से हरदा ले जाने पर भी सवाल उठाया। मामले पर सिविल लाइन थाना प्रभारी जयंत मर्सकोले ने बताया कि पुलिसकर्मियों की लापरवाही की जांच की जा रही है। दोष साबित होने पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि आरोपी पर दुष्कर्म और अपहरण का मामला दर्ज था।


उत्पादक संगठन बनाया जाएगाः आदित्यनाथ

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कृषि उत्पादों की ब्रांडिंग पर जोर देते हुए रविवार को कहा कि मौजूदा वित्त वर्ष में राज्य के हर विकास खण्ड में एक किसान उत्पादक संगठन (एफपीओ) बनाया जाएगा। योगी ने नाबार्ड और दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि आज का वक्त ब्रांडिंग का है। हम अपने ब्रांड को जितना आगे बढ़ाएंगे, उतना ही उसका मूल्य बढ़ेगा। अनेक एफपीओ बेहतर काम करके अपने उत्पादों की ब्रांडिंग करके इसका लाभ उठा रहे हैं।


उन्होंने कहा कि प्रदेश में 823 विकास खण्ड हैं। इस वित्त वर्ष के अंत तक प्रदेश के हर ब्लॉक में एक एफपीओ बनाया जाएगा, जो वहां के किसानों के लिये आदर्श साबित होगा।भविष्य में कोशिश होगी कि राज्य की सभी 60 हजार ग्राम पंचायतों में भी एक-एक एफपीओ स्थापित हो. इससे किसानों की आमदनी बढ़ाने में मदद मिलेगी। सीएम योगी ने  रैन बसेरों का औचक निरीक्षण किया था बता दें कि इससे पहले बीते 27 दिसंबर को सीएम योगी ने लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान, पुराने एसएसपी कार्यालय के पास और केजीएमयू स्थित रैन बसेरों का औचक निरीक्षण किया था।इस दौरान सीएम ने लोगों से उनका हाल-चाल लेते हुए सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की थी। ्सा्।  ही सीएम योगी ने निर्देश दिए थे कि प्रदेश के हर मेडिकल कॉलेज, अस्पताल, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन के परिसर में एक-एक रैन बसेरा स्थापित किया जाए. उन्होंने कहा था कि जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम, नगर निकाय द्वारा यह रैन बसेरे स्थापित किए जाएं। सीएम ने साथ ही यह भी कहा था कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी व्यक्ति जो अपने परिवार के रोगी की चिकित्सा के लिए शहर आया है, उसे किसी भी हालत में खुले में सोने पर मजबूर न होना पड़े।


सूअर के लात मारने से बड़ा विवाद, हत्या

जशपुर। जिले के कनमोरा गाँव मे सूअर को लात मारने को लेकर 2 युवकों में विवाद इतना बद्व गया कि युवक ने अपने ही दोस्त की हत्या कर दी। जिले की कोतवाली पुलिस मामले की जांच कर रही है।जानकारी के मुताबिक रविबार की दोपहर उजिन बेग नामक युवक ने अपने दोस्त अमित के सुअर को लात मार दिया। सूअर को लात मारना अमित को नागवार गुजरा और दोनो में झूमा झटकी शुरू हो गयी।गाँव के लोगो के द्वारा बीच बचाव करने विवाद तो शांत करा दिया गया लेकिन बाद में उनके बीच विवाद फिर शुरू हो गया इसी दौरान उजिन ने अमित के चेहरे पर बांस के डंडे से हमला कर दिया। बाद में उसे अस्पताल लाया गया लेकिन तबतक उसकी मौत हो चुकी थी।


टीटीपी कमांडर के मारे जाने की खबर

इस्लामाबाद। अफगानिस्तान में बंदूकधारियों ने तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के कमांडर कारी सैफुल्ला महसूद की गोली मारकर हत्या कर दी है। टीटीपी ने अपने कमांडर के मारे जाने की पुष्टि की है। बताया गया है कि यह हमला हक्कानी नेटवर्क द्वारा किया गया था। क्योंकि उन्होंने कुछ दिन पहले इलाके में टीटीपी के हकीमुल्ला महसूद ग्रुप से जुड़े तीन आतंकवादियों को मार गिराया था। 
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आतंकी संगठन टीटीपी के प्रवक्ता ने एक ऑडियो संदेश में कहा कि सैफुल्ला खोस्त प्रांत में गुलून शिविर के बाहर मारा गया है। प्रवक्ता ने दावा किया कि यह हमला हक्कानी नेटवर्क द्वारा किया गया था, क्योंकि उन्होंने कुछ दिन पहले इलाके में टीटीपी के हकीमुल्ला महसूद समूह से जुड़े तीन आतंकवादियों को मार गिराया था।
टीटीपी की स्थापना 2007 में बैतुल्ला महसूद द्वारा की गई थी और वर्तमान में इसे चार गुटों में विभाजित किया गया है जिनमें स्वात समूह, मेहसूद समूह, बाजौर एजेंसी समूह और दर्रा आदम खेल समूह शामिल हैं। पाकिस्तान में हुई कई हमलों में आतंकी सैफुल्ला महसूद का हाथ रहा है, इसलिए वह पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा वांछित आतंकवादियों की सूची में भी शामिल था। एक ऑडियो संदेश में, महसूद ने दावा किया था कि उसके समूह ने इस साल 75 आतंकी हमले किए, जिनमें ज्यादातर खैबर पख्तूनख्वा के उत्तर और दक्षिण वजीरिस्तान जिलों में स्थानीय बुजुर्गों को निशाना बनाते हुए किया गया था। हालांकि पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा इस दावे का सत्यापन और पुष्टि नहीं की गई।
विश्लेषकों ने कहा कि महसूद की मृत्यु टीटीपी के लिए एक बड़ा झटका है क्योंकि वह चारों गुटों को एकजुट करने का प्रयास कर रहा था। पेशावर के एक वरिष्ठ पत्रकार साबूर खट्टक ने कहा कि टीटीपी पहले ही कई समूहों में विभाजित हो चुका है और मेहसूद उन्हें सक्रिय करने की कोशिश कर रहा था। दूसरा, वह सबसे सक्रिय आतंकवादी था और पाकिस्तान द्वारा कई आतंकवादी हमलों के लिए वांछित था। 
खट्टक ने बताया कि मेहसूद ने कराची में 2015 में हुए भयानक बस हमले की जिम्मेदारी ली थी। इस हमले में 45 लोग मारे गए थे। उन्होंने बताया कि 2016 में, टीटीपी कमांडर को अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना द्वारा गिरफ्तार किया गया था और उसे 14 महीने तक जेल में रखा गया था। हालांकि, बाद में उसे छोड़ दिया गया।


पाक टीचर ने मासूम से सौ बार किया कुकर्म

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के एक शिक्षक ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दी है। स्थानिय मीडिया के अनुसार, यह मामला खैबर पख्तूनख्वा प्रांत का है जहां एक शिक्षक ने मदरसे में 10 वर्षीय मासूम बच्चे के साथ 100 बार दुष्कर्म किया। मामले का खुलासा उस समय हुआ जब इस घिनौनी हरकत के कारण असहाय मासूम की आंखों से खून के आंसू तक निकल पड़े। स्थानीय मीडिया के मुताबिक आंखों से खून आने के बाद पास के अस्पताल में बच्चे की जांच की गई। जांच में पता चला कि उसके साथ कम से कम 100 बार दुष्कर्म किया गया है। 


जांच में खुलासा हुआ कि इस भयावह कृत्य में कोई और नहीं बल्कि बच्चे को पढ़ाने वाला शिक्षक शमसुद्दीन और उसके तीन अन्य साथी शामिल हैं। हालांकि बाकी तीनों के नाम का खुलासा अभी नहीं हुआ है। 


स्थानीय पुलिस ने चार संदिग्धों के खिलाफ धारा 377 के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई है। हालांकि अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। बच्चा अभी अस्पताल में भर्ती है और उसकी हालत खराब बनी हुई है। खैबर पख्तूनख्वा के मुख्यमंत्री ने मामले में संज्ञान लिया है और उन्होंने दोषियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने का निर्देश दिया है।


युविका चौधरी ने फैशन टिप्स किए साझा

मुंबई। अभिनेत्री और रिएलिटी शो बिग बॉस की पूर्व प्रतिभागी युविका चौधरी ने कुछ फैशन टिप्स साझा करते हुए कहा, अपने स्टाइल के साथ एक्सपेरीमेंट करने के लिए सर्दियों का मौसम एक उपयुक्त समय है। नच बलिए के सीजन 9 में अपने पति प्रिंस नरूला संग भाग लेने वाली युविका ने ठंड के इस मौसम के लिए कुछ फैशन टिप्स साझा किए हैं जो कुछ इस प्रकार है-
लेयरिंग सर्दियों में स्टाइल के साथ प्रयोग करने का एक हिस्सा है। ओवरकोट फैशन में हैं, इन्हें टर्टलनेक या हाई-नेक स्वेटर्स के साथ पहना जा सकता है। अपने लुक को एक फिनीशिंग टच देने के लिए ओवरकोट के ऊपर से एक स्लिम बेल्ट पहन लें। छोटे-मोटे साधारण से आभूषण आपके इस खास लुक में एक चमक पैदा कर सकती हैं। एक सिंपल स्टोन ईयररिंग्स को इस लुक के साथ कैरी किया जा सकता है। यह एक ऐसी चीज है जो किसी भी मौसम में फैशन में बनी रहती है।
ऊनी स्कार्फ और खिले हुए रंगों की खूबसूरत टोपियां आपको भीड़ से अलग दिखा सकती हैं। इससे आपको गर्माहट भी महसूस होगी और फैशन में भी कोई कमी नहीं आएगी।
ओवरकोट के साथ लॉन्ग वूलन ड्रेसेज और कमर पर एक फैनी पैक (एक तरह का छोटा सा बैग) और टखने तक की लंबाई वाले बूट्स या एंकल लेंथ बूट्स आपके फैशन में चार चांद लगा सकती है।
एक छोटे से स्कर्ट को स्टॉकिंग्स और हाई लेंथ बूट्स के साथ पेयर किया जा सकता है। इससे भी लुक काफी बेहतर होगा।
युविका हाल ही में महिलाओं के फैशन परिधान ब्रांड जोमो की सह-मालकिन बनीं हैं। इसके बारे में उन्होंने कहा, जोमो दीर्घकालिक फैशन के दृष्टिकोण के साथ भारतीय और पाश्चात्य शैली के पोशाकों का एक सही मेल है जो कम मूल्य और अच्छी क्वालिटी के हैं। हम 2020 में कपड़ों की एक बेहद ही रोचक और नई श्रृखंला को लॉन्च करने जा रहे हैं। दिल्ली-एनसीआर में जोमो के तीन स्टोर हैं और आगे इसके विस्तार की भी योजना है।


डांस पर आधारित वरुण की स्ट्रीट डांसर

मुंबई। अभिनेता वरुण धवन आने वाले समय में स्ट्रीट डांसर 3डी में नजर आने वाले हैं। यह फिल्म पूरी तरह से डांस पर आधारित है। वरुण फिलहाल देश में मौजूद डांसिंग प्रतिभाओं की तारीफ में कसीदे पढ़ रहे हैं। वरुण का दावा है कि अगले दस साल में भारत डांस के क्षेत्र में शीर्ष पर होगा।
मुंबई में स्ट्रीट डांसर 3डी के गाने गर्मी के अनावरण पर वरुण ने कहा, भारतीय डांसरों में जिस तरह की प्रतिभाए हैं, उन्हें देखते हुए मैं गर्व के साथ कह सकता हूं कि डांस के क्षेत्र में हम बेहतरीन देशों में से एक हैं।


अगले दस सालों में भारत डांस के क्षेत्र में शीर्ष पर होगा। हमारे देश में डांसर्स को बहुत संघर्ष करना पड़ता है, क्योंकि डांस को कभी एक पेशे के तौर पर सोचा ही नहीं गया। मुंबई में आयोजित इस समारोह में वरुण के साथ फिल्म में उनकी सह-कलाकार नोरा फतेही, फिल्म के निर्देशक रेमो डिसूजा और निर्माता लिजेल डिसूजा मौजूद थीं। स्ट्रीट डांसर 3डी में अभिनेत्री श्रद्धा कपूर और अभिनेता-निर्देशक प्रभु देवा भी हैं।


डार्क चॉकलेट खाने से मुंढ सही रहेगा

हममें से ज्यादातर लोग जानते हैं कि डार्क चॉकलेट खाने से मूड सही रहता है। लेकिन डार्क चॉक्लेट खाने के साथ-साथ स्किन को ब्राइट बनाती है, इस बारे में कम ही लोगों को पता है। खासतौर पर ये बातें कि स्किन को स्मूद और पैच फ्री बनाने के साथ ही यह हमारी स्माइल को बेहतर बनाने का काम करती है…
स्माइल पर असर 
अगर हम खुश रहते हैं तो हर चीज को पॉजिटिवली लेते हैं। चॉकलेट में साइकोऐक्टिव इंग्रीडिऐंट्स होते हैं, जो हैपी हॉर्मोन्स को रिलीज करते हैं, इससे हमारे चेहरे पर हर समय स्माइल बनी रहती है और स्किन में रिंकल्स की समस्या हमसे दूर रहती है।
ग्लो बढ़ाने के लिए चॉकलेट फेस पैक
चेहरे पर हुई टैनिंग को दूर करने के लिए चॉकलेट फेसपैक बहुत इफेक्टिव रहता है। यह स्किन को ग्लोइंग बनाता है। आप दो चम्मच डार्क चॉकलेट पाउडर में एक चम्मच शहद और 1 चम्मच दूध मिलाकर पेस्ट बना लें। पेस्ट गाढ़ा लगे तो दूध की मात्रा बढ़ाई जा सकती है लेकिन पेस्ट को सिर्फ इतना लूज बनाएं कि वह स्किन पर आसानी से फैल जाए। इसे फेस पर लगाएं और सूखने पर धो लें। पहली बार में ही फर्क नजर आएगा।
मुलतानी मिट्टी के साथ डार्क चॉकलेट 
डार्क चॉकलेट पाउडर और मुलतानी मिट्टी पाउडर को एक एक चम्मच लेकर इसे गुलाबजल के साथ मिक्स करके पेस्ट बना लें। तैयार पेस्ट को चेहरा धुलने के बाद फेस से लेकर नेक तक लगाएं और सूखने तक लगा रहने दें। इसके बाद ताजे पानी से धोकर अपने पसंदीदा मॉइश्चराइजर से हल्की मसाज करें। कुछ ही दिनों में आपको अपनी स्किन स्मूद, ग्लोइंग और रिंकल फ्री लगने लगेगी।
एजिंग साइन रोके
अगर आप तनाव और उलझनों के कारण चेहरे पर उभर आए बढ़ती उम्र के निशानों से परेशान हैं तो चायपत्ती के ठंडे पानी में चॉकलेट पाउडर घोलकर फेसपैक तैयार करें। इसमें कुछ बूदें गुलाबजल की भी डालें। तैयार पैक को सूखने तक चेहरे पर लगा लें और फिर ताजे पानी से धो लें। बढ़ती उम्र के निशान कुछ ही दिनों में गायब हो जाएंगे।
पिंपल्स से बचाए
डार्क चॉकलेट फेस पैक लगाने से चेहरे पर पिंपल्स और ब्लैकहेड्स जैसी समस्या भी नहीं होती है। वहीं चेहरा दमकता भी रहता है। पिंपल्स की समस्या से मुक्ति पाने के लिए आप ऊपर बताए गए फेसपैक्स में से कोई सा भी फेस पैक यूज कर सकती हैं। साथ ही डार्क चॉकलेट सीमित मात्रा में खाकर भी पिंपल्स को दूर कर सकती हैं।


नए साल पर दोस्तों को दे उपहार

एक और साल खत्म होने की कगार पर है और नया साल, साल 2020 नई उम्मीदें, नए सपने और नई स्टोरीज को बनाने का इंतजार कर रहा है। यह नया साल हम सबकी लाइफ में एक हैपी गिफ्ट की तरह आए और सभी के चेहरे पर हमेशा मुस्कान बनी रहे, इन उम्मीदों के साथ अगर आप भी अपने दोस्तों या परिवार के सदस्यों के लिए कुछ गिफ्ट्स खरीदने की सोच रहे हैं तो हम आपको दे रहे हैं कुछ बेहतरीन गिफ्टिंग आइडियाज। 
डायरी नहीं बुलेट जर्नल दें गिफ्ट में 
न्यू इयर के मौके पर आमतौर पर लोग एक दूसरे को डायरी गिफ्ट में देते हैं लेकिन इस बार ओल्ड स्कूल डायरी की जगह आप चुन सकते हैं बुलेट जर्नल। जी हां, अगर आपका दोस्त, पत्नी या परिवार का कोई सदस्य बेहद ऑर्गनाइज्ड तरीके से अपनी लाइफ जीता है तो ऐसे व्यक्ति के लिए यह एक अच्छा गिफ्टिंग ऑप्शन हो सकता है। इस जर्नल की मदद से गिफ्ट पाने वाला व्यक्ति अपनी सालभर की ऐक्टिविटी, टू-डू लिस्ट और अपने विचारों को बड़ी आसानी से इसमें कैद कर पाएगा।
स्किनकेयर हैम्पर 
अगर आप सोच रहे हैं कि इस तरह की चीजें तो सिर्फ लड़कियों की गिफ्ट की जाती हैं तो ऐसा बिलकुल नहीं है। एक अच्छा स्किन केयर हर कोई चाहता है। लिहाजा आप अपने दोस्त को शैंपू, साबुन, इंसेंस स्टिक, मॉइश्चराइजर आदि का एक पूरा हैम्पर तैयार करके गिफ्ट में दे सकते हैं। आप चाहें तो सर्दी के मौसम को देखते हुए इस बास्केट में बॉडी लोशन और लिप बाम भी ऐड कर सकते हैं ताकि उनका दिन हमेशा बना रहे फ्रेश और डीटॉक्स।
फिटनेस बैंड 
अगर आपके दोस्त या रिश्तेदार ने इस नए साल में वजन घटाने और फिट रहने का रेजॉलूशन लिया है तो ऐसे दोस्त के लिए फिटनेस बैंड एक अच्छा गिफ्ट ऑप्शन हो सकता है। अगर आपका फ्रेंड या परिवार का कोई सदस्य डायबीटिक है या हार्ट पेशंट है जिन्हें अपने स्टेप्स काउंट करने पड़ते हैं, कैलरी पर नजर रखनी होती है तो उनके लिए भी ये एक अच्छा गिफ्ट ऑप्शन हो सकता है।
गिफ्ट करें एक अच्छा सा स्टेकेशन 
अगर आपका बजट ये अलाउ करता है और आप गिफ्ट देने वाले व्यक्ति से हद से ज्यादा प्यार करते हैं तो उन्हें किसी फैंसी से होटल में वीकेंड पर स्टेकेशन गिफ्ट में दे सकते हैं। नए साल के मौके पर यह भी एक परफेक्ट गिफ्ट हो सकता है उस व्यक्ति के लिए जो एक अच्छी जगह पर, अच्छे खाने के साथ पर्सनल टाइम स्पेंड कर नए साल का स्वागत करे।
तोहफे में दें प्लांट्स 
इन दिनों चारों तरफ एयर पलूशन की दिक्कत हो रखी है। ऐसे में सांस लेने के लिए ताजी हवा किसे नहीं चाहिए। लिहाजा आप नए साल के मौके पर अपने दोस्त या किसी अपने को एयरप्योरिफाइंग प्लांट गिफ्ट में दे सकते हैं ताकि उन्हें मिल सके बाहर के वातावरण की जहरीली हवा से कुछ राहत।


कार को साइड न देने पर गोली मारी

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। दिल्ली से सटे गाजियाबाद में एक बार फिर सड़क पर दबंगई जिंदगी पर भारी पड़ गई। यहां कार को रास्ता नहीं देने पर एक 24 वर्षीय युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि कार चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है और हत्या में इस्तेमाल की गयी पिस्तौल भी बरामद कर ली गई है।



पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को रात साढ़े नौ बजे घुकना कालोनी के पास भीम तिराहे पर आशीष अपने दोस्त से बात कर रहा था तभी आरोपी कृष्ण पाल अपनी कार के साथ वहां आया और उन्हें वहां से हटकर कहीं और जाकर बात करने के लिए कहा। इसी बात को लेकर आशीष और पाल में बहस हो गई जिसके बाद पाल आशीष को गोली मारकर मौके से फरार हो गया। पुलिस अधीक्षक(नगर) मनीष मिश्रा ने बताया कि सूचना के आधार पर मामला दर्ज कर लिया गया है और शनिवार रात 11:45 बजे पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया है। उन्होंने कहा कि पूछताछ के दौरान हरवंस नगर कालोनी निवासी पाल ने आशीष की हत्या करने की बात स्वीकार कर ली है।


भयानक सड़क हादसे में तीन जिंदा जले

रतलाम। देर रात एक ट्रक व आईसर में जोरदार भिड़ंत हो गई, जिससे आईसर में आग लग गई ट्रक में सवार 4 लोगों में से तीन की जलकर मौत हो गई। जबकि एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया है। हादसे से घायल युवक को उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल ले जाया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है। फिलहाल सूचना मिलने से मौके पर पहुंची पुलिस मर्ग कायम कर शव पीएम के लिए भेज आगे की कार्रवाई कर रही है।


मिली जानकारी के अनुसार सोमवार रात मिर्ची भरकर रतलाम जा रहे एक ट्रक की सामने से आ रहे मिनी ट्रक से भिड़ंत हो गई। दोनों वाहनों में टक्कर इतनी जोरदार हुई कि गाड़ियों में आग लग गई। हादसे से ट्रक में सवार तीन लोग जिंदा जल गए। इस हादसे के बाद मिनी ट्रक में सवार चालक और क्लीनर मौके से फरार हो गए।


रावत देश के पहले 'चीफ ऑफ डिफेंस'

नई दिल्ली। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत को देश का पहला चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) बनाया गया है। बता दें कि केंद्र सरकार ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) का कार्यकाल 3 साल के लिए और बढ़ा दिया गया है. अब चीफ ऑफ डिफेंस के रिटायर होने की उम्र 65 वर्ष होगी। 65 साल की उम्र पूरी होने के बाद ही इस पद से सीडीएस रिटायर होंगे। पहले 62 साल में ही रिटायर होने का प्रावधान था।


सीडीएस को तीनों सेनाओं के बीच तालमेल बनाने की जिम्मेदारी दी जाएगी। मंगलवार को जनरल बिपिन रावत थल सेना प्रमुख के पद से रिटायर होने वाले हैं।


सीडीएस (CDS) फोर स्टार जनरल होगा और इनका का कार्यकाल तीन साल का होगा। जो अपने पद पर 65 साल की उम्र तक बने रहेंगे। हालांकि पहले यह 62 साल थी लेकिन सरकार ने इसमें बदलाव कर दिया था।


CDS की नियुक्ति युद्ध में सिंगल प्वाइंट आदेश देने के नजरिए से भी काफी अहम है। इसका मतलब यह कि तीनों सेनाओं को एक ही आदेश जारी होगा। मालूम हो कि करगिल युद्ध के बाद बनी के. सुब्रमण्यम की अध्यक्षता वाली रिव्यू कमेटी ने सीडीएस पद की सिफारिश की थी।


कमेटी ने पाया था कि करगिल जंग के दौरान तीनों सेनाओं में तालमेल की काफी कमी थी। इसलिए सेनाओं के तालमेल के लिए एक चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की जरूरत है।


बहन से प्रेम-प्रसंग, बेटी से की शादी

नेब्रास्का। अपनी बेटी से शादी के जुर्म में 2 साल की सजा पा चुके पिता ने एक अन्य कोर्ट में अपने ऊपर लगे आरोपों को चुनौती नहीं देने का फैसला किया है। 40 के पिता को अमेरिका की एक अदालत ने सजा सुनाई है। लेकिन बेटी के साथ संबंध को लेकर ही पिता पर एक अन्य राज्य में भी मुकदमा चल रहा है।


डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रैविस फील्डग्रोव नाम का शख्स अपनी ही बेटी के साथ रोमांटिक रिलेशन में था और फिर शादी भी कर ली। अमेरिका के नेब्रास्का में ट्रैविल के खिलाफ फिलहाल इसी को लेकर दूसरा मुकदमा चल रहा है। वहीं, ट्रैविस की बेटी ने कहा कि उसके और सौतेली बहन के बीच, पिता का प्यार पाने के लिए कॉम्पिटिशन हुआ करता था। पिछले साल अक्टूबर में ट्रैविस से समंथा कर्शनर से शादी की थी। इसके एक महीने बाद पुलिस ने जांच शुरू की थी। 


अमेरिका के नेब्रास्का का एडम काउंटी कोर्ट ट्रैविस को अब 14 जनवरी 2020 को सजा सुनागा। इससे पहले पिता से शादी करने के जुर्म में बेटी को 9 महीने प्रोबेशन की सजा दी गई थी। पुलिस ने कहा था कि पिता और बेटी ने रोमांटिक और सेक्शुअल रिलेशनशिप की बात कबूल कर ली है। बेटी के जन्म के बाद उसकी परवरिश पिता से अलग हुई थी। 17 साल की उम्र में वह पहली बार पिता से मिली थी।


ठंड कम होने के अभी कोई आसार नहीं

नई दिल्ली। पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली समेत उत्तर भारत के बाकी इलाके भीषण शीतलहर की चपेट में हैं।  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ी में शनिवार को मौसम का सबसे ठंडा दिन दर्ज किया गया। अधिकारियों ने बताया कि सुबह न्यूनतम तापमान गिरकर 2.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शहर घने कोहरे की चादर में लिपटा रहा जिससे दृश्यता कम हो गई और सड़कों पर वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ा।


मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि 28 और 29 दिसंबर को सामान्य से अधिक सर्दी पड़ेगी। पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में 30 दिसंबर की रात से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण 31 दिसंबर और एक जनवरी को उत्तर-पश्चिमी एवं मध्य भारत में बारिश एवं ओलावृष्टि का पूर्वानुमान व्यक्त किया गया है। हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार सहित देश में उत्तर, मध्य एवं पूर्व के अधिकांश इलाकों में अगले दो दिनों तक शीत लहर के कारण प्रचंड सर्दी व घने कोहरे का प्रकोप जारी रहेगा। नए साल की शुरुआत में बारिश और ओलावृष्टि होने का पूर्वानुमान है। मौसम का यह मिजाज बताता है कि अब अगले साल ही जनवरी के पहले सप्ताह में कड़ाके की ठंड से कुछ राहत मिलने की उम्मीद की जा सकती है।


केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के करगिल जिले के द्रास में तापमान -20 डिग्री तक पहुंच गया है। द्रास को दुनिया के दूसरे सबसे ठंडे रिहायशी इलाके में गिना जाता है। उच्च हिमालयी इलाकों में भारी बर्फबारी से तापमान में यह जबर्दस्त गिरावट आई है। राजस्थान में भी ठंड रेकॉर्ड तोड़ रही है। शनिवार को शेखावटी में पारा लुढ़ककर -4, जबकि सीकर में -1 पर चला गया। जबर्दस्त शीत लहर के कारण शुक्रवार को भी पारे ने रेकॉर्ड तोड़ा था। जयपुर में पारा पांच साल बाद फिर 4 डिग्री तक गिर गया। जयपुर जिले के जोबनेर में -1 डिग्री दर्ज किया गया।


शराब में स्नान करती है यह महिला

इस्लामाबाद। हर इंसान का शौक अलग होता है। किसी को महंगी महंगी गाड़ियों में घुमने के शौक होता है तो कोई करोड़ो की ज्‍वैलरी रखने का शौक फरमाता है। अपने शौक को पूरा करने के लिए ये लोग करोड़ो खर्च कर देतें है। ऐसे ही एक महिला के शौक के बारें में आपको बताने जा रहे है जिसकों जान कर आप भी चौक जाओगे।


हम बात कर रहे है पाकिस्तानी मूल के ब्रिटिश अरबपति मोहम्मद जहूर की वाइफ कमालिया की। इनको नहाने का शौक है। अब आप सोच रहे होंगे की इसमें नया क्या है यह भी कोई शौक हुआ। दरहसल, इनको पानी की बजह शैंपेन से नहाने का शौक है। इसके लिए वह कई महंगी शैंपेन की बोतलें खाली कर देती हैं। वे खुद को खूबसूरत बनाने के लिए सिर्फ नहाने पर ही 1 करोड़ रुपए खर्च कर देती हैं। हर दिन 18-20 बोतालें से नहाती हैं और एक शैंपेन की बोतल की कीमत 5 हजार की होती है। इसका मतलब एक दिन के नहाने में यह महिला तक़रीबन 1 लाख रुपए की शैंपेन का इस्तेमाल करती है। रिपोर्ट्स के मुताबिक उनकी सेवा में दिन-रात 22 नौकर लगे रहते हैं। कमालिया के पति इन नौकरों की सैलरी पर ही सालाना 1.94 करोड़ रुपए खर्च कर देते हैं।


शादी से पहले कमालिया का नाम नताल्या शमरेनकोवा था। बाद में उन्होंने अपना नाम बदल लिया। कमालिया मॉडल और सिंगर भी रह चुकी हैं। उनका जन्म यूक्रेन में हुआ और वे लंबे वक्त तक रूस में रह चुकी हैं। पाकिस्तान में समय बिताते हुए उन्होंने वहां के चैरिटी प्रोग्राम में भी काम किया है। कमालिया हीरे जड़ी हुई घड़ियां पहनती है जिनकी कीमत 40 लाख रुपए से भी ज्यादा है। उनके एक चश्मे की कीमत 4 लाख रुपए है। अगर बात की जाए उनकी हैंडबैग की तो उसकी कीमत 90 लाख रुपए है और वह सालाना अपने जूतों पर 20 लाख से ज्यादा खर्च कर देती हैं।


यूं तो कमालिया को पेरिस के मशहूर और सबसे बड़े होटल सूट इंपेरियल रिट्ज में रुकने का शौक है। इस होटल में एक रात रुकने का ही खर्च करीब 20 लाख रुपए तक है। इसके अलावा खाने-पीने और अन्य खर्च अलग से होते हैं। लेकिन विदेश टूर के लिए उनके पास अलग-अलग देशों में 14 घर और 2 प्राइवेट जेट हैं।


कंकर पत्थर का भोजन करते हैं ये संत

अमेठी। एक सन्त किस-किस तरह की चीजें खाकर अपना पेट भरते है। यह सुनकर आप यकीनन हैरत में पड़ जाएंगे। ये सन्त मिट्टी बालू पत्‍थर जैसी चीजें न केवल खाते हैं। बल्‍कि उसे आसानी से हजम भी कर जाते हैं। कहने को तो हम सभी का अपना कोई न कोई पसंदीदा खाना जरूर होता है। उसे खाने के लिए हम हमेशा तैयार रहते हैं। लेकिन इससे हट के इस सन्त की कहानी है। उसकी पसंद खाना नहीं बल्कि खाने के तौर पर मिट्टी बालू और पत्थर है। उसे ईट पत्थर बालू घोलकर पीना और मिट्टी चाटना इतना पसंद है कि वो दिन भर में करीब किलोभर तक कंकड़-पत्थर खा जाते है।


मामला अमेठी जिले के गौरा प्राणी गांव का है। करीब 100 वर्ष के सती प्रसाद को किशोरावस्था से ही पत्थर खाना पसंद था। कंकड़ पत्थर खाने और बालू घोलकर पीने की हरकत कब उसकी आदत बन गई, उसको पता ही नहीं चला। यहीं नहीं वो ईंटें भी खाने लगे थे। ग्रामीणों ने बताया की बहुत कहने पर ही वह भोजन करते है। यही नही सन्त सती प्रसाद पूरे भारत वर्ष सहित कई देशों की पैदल यात्रा कर चुके है।


करीब बीस वर्ष की उम्र से ही सती प्रसाद ने कंकड़ पत्थर सहित बालू खाना शुरू कर दिया और 100 वर्ष की उम्र में भी यह जारी है हैरानी की बात है कि वो हर रोज करीब किलो भर कंकड़ पत्थर और बालू घोलकर पीने के बाद भी ठीक है। अपने अजब खाने की आदत की वजह से उसे कभी भी पेट दर्द या कोई गंभीर बीमारी की शिकायत आज तक नहीं हुई है। बेहद शौक से ईंट-पत्थर खाने और बालू घोलकर पीने वाला इस सन्त के दांत अब बिल्कुल नही हैं ।


67 का दूल्हा, 66 की दुल्हन ने रचाई शादी

केरल। कहते हैं प्यार करने की कोई उम्र नहीं होती है। उम्र के किसी पड़ाव में प्यार हो सकता है। प्यार के बंधन में कोई भी किसी उम्र में बंध सकता है। केरल से भी ऐसा ही मामले सामने आाया है, जहां एक अनोखी शादी देखने को मिली है।


केरल के एक सरकारी वृद्धा आश्रम में एक बुजुर्ग जोड़ा शादी के बंधन में बंध गया है। 67 साल के कोचानियन मेनन और 66 साल की लक्ष्मी अम्मल त्रिशूर जिले के रामावर्मापुरम के वृद्ध आश्रम में मिले। वृद्धा आश्रम में ही दोनों बुजुर्गों को आपस में प्यार हो गया, फिर क्या था दोनों ने उम्र के इस पड़ाव में किसी की परवाह किये बगैर शादी रचा ली।


जैसे ही मेनन (67) और लक्ष्मी (65) ने शादी की, सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीरें वायरल हो गई। शादी के फोटोज में दोनों बुजुर्ग बेहद खूबसूरत और खुश नजर आ रहे हैं। सोशल मीडिया पर दोनों को लोग ढेर सारी बधाईयां भी दे रहे हैं।


प्रशांत किशोर ने नीतीश पर बोला हमला

पटना। जेडीयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने एक बार फिर से सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोला है। नागरिकता संशोधन कानून को समर्थन देने पर एक बार फिर से प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार के फैसले पर सवाल खड़े किये हैं। संसद में जेडीयू की ओर से नागरिकता संशोधन कानून को समर्थन देने पर प्रशांत किशोर ने अपना गुस्सा एक बार फिर से जाहिर किया है।


प्रशांत किशोर ने कहा है कि नीतीश कुमार ही बता सकते हैं कि आखिर किन परिस्थितियों में जेडीयू ने नागरिकता संशोधन कानून को संसद के दोनों सदनों में समर्थन दिया। आपको बता दें कि जबसे जेडीयू ने नागरिकता संशोधन कानून को संसद के दोनों सदनों में अपना समर्थन दिया है, तबसे प्रशांत किशोर पार्टी से नाराज चल रहे हैं। बिल को समर्थन देने के विरोध में प्रशांत किशोर पहले भी नीतीश कुमार के फैसले पर नाराजगी जता चुके हैं। 


पार्टी लाइन से अलग जाकर प्रशांत किशोर ने इसके लिए सीएम नीतीश की आलोचना भी की थी। हालांकि नीतीश कुमार से प्रशांत किशोर की मुलाकात के बाद ये मामला शांत हो गया था, जिसके बाद नीतीश कुमार ने भी सार्वजनिक तौर पर ये ऐलान किया था कि बिहार में NRC लागू नहीं किया जाएगा। लेकिन CAA पर एक बार फिर प्रशांत किशोर ने नीतीश के फैसले पर सवाल खड़ा किया है।


पत्रकारों का शोषण नहीं होगा बर्दाश्त

 अजय मिश्रा


प्रयागराज ,कोरांव। तहसील कोरांव अन्तर्गत क्षेत्र के लेड़ियारी बाजार में स्थित शिवजियावन इंटर कॉलेज के प्रांगण में शनिवार को ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन की बैठक एसोसिएशन के जिला महामंत्री दिगंबर त्रिपाठी की अध्यक्षता में आहूत की गई । उक्त बैठक में बतौर मुख्य अतिथि ग्रापए एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष अयोध्या प्रसाद केसरवानी ने हिस्सा लिया । इस दौरान उन्होने कहा कि पत्रकारों का उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पत्रकारों की हर समस्या की लड़ाई जिले से लेकर प्रदेश स्तर तक लड़ी जाएगी । इस दौरान जिलाध्यक्ष ने वार्षिक प्रगति रिपोर्ट की जानकारी मौजूदा तहसील अध्यक्ष ईश्वर चंद्र मिश्र से ली। एसोसिएशन के महामंत्री दिगंबर त्रिपाठी ने एसोसिएशन के नियम कायदे एवं संगठनात्मक ढांचे को विस्तार से सभी पदाधिकारियों को बताया और वार्षिक सदस्यता शुल्क प्रांतीय सम्मेलन के साथ कई बिंदुओं पर अहम चर्चा की। उक्त बैठक में तहसील अध्यक्ष कोरांव का मनोनयन किया जाना था किंतु संगठन के अगुवाकारों के द्वारा यह निर्णय लिया गया कि 5 तारीख की जिले की बैठक में कोरांव तहसील के अध्यक्ष के नाम की घोषणा की जाएगी। उक्त बैठक में प्रमुख रूप से वरिष्ठ पत्रकार सुखलाल विश्वकर्मा, कृष्ण शंकर पांडे, लक्ष्मण प्रसाद द्विवेदी ,केके मिश्रा, श्री कृष्ण केसरी, अजय मिश्रा, राजेश सिंह, मनीष वर्मा, जनेश्वर तिवारी, सरस्वती प्रसाद मिश्र, सोमधर शुक्ला ,साहब लाल कुशवाहा, सचिन केसरी ,अनुज कुशवाहा, जयशंकर भास्कर, खेमराज सिंह, अरविंद कुमार सिंह, मुकेश द्विवेदी, मनोकामना पांडेय सहित भारी संख्या में पत्रकार मौजूद रहे।


भाजपा के 300 विधायक योगी के खिलाफ

भाजपा के 300 विधायक मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ, अखिलेश यादव ने किया दावा                           


लखनऊ। युवाओं को संबोधित करते अखिलेश यादव सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपनी कुर्सी बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। भाजपा के 200 से ज्यादा विधायक अपनी ही सरकार के खिलाफ धरने पर बैठ गए थे। हालत ये है कि भाजपा के करीब 300 विधायक सरकार के खिलाफ हैं इसलिए जानबूझकर प्रदेश में बवाल के बहाने मुद्दों से जनता का ध्यान हटाने की कोशिश की जा रही है।


अखिलेश यादव रविवार को लखनऊ में सपा मुख्यालय पर पार्टी नेताओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य है भाजपा को हटाना है। भाजपा के लोग समाज में भेदभाव बढ़ाकर उसका लाभ लेने की कोशिश करते हैं। हम संविधान का सम्मान करते हैं और वो संविधान को नहीं मानते। आज जब देश की अर्थव्यवस्था आईसीयू में पहुंच गई है और इनके पास देश को दिखाने के लिए कुछ नहीं है तो समाज में एक दूसरे को लड़वाना चाहते हैं।


अखिलेश ने कहा कि समाजवादी लोग अन्याय के खिलाफ हैं। हम उनसे संघर्ष करेंगे। भाजपा सरकार को बताना चाहिए कि प्रदेश के अलग-अलग जिलों में हुई हिंसा में कितने लोगों के खिलाफ कार्रवाई हुई? आज सभी फोटो और वीडियो मौजूद हैं उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए जो जनता को धमकी दे रहे हैं लेकिन ये मुख्यमंत्री ऐसे हैं जिन्होंने खुद पर ही चल रहे मुकदमों को हटवा दिया और अब कुर्सी बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं


'एनआरसी व एनपीआर हर गरीब के खिलाफ हर मुसलमान के खिलाफ'
अखिलेश यादव ने कहा कि हम सरकार को कोई दस्तावेज नहीं दिखाएंगे। हम इसी देश के नागरिक हैं। भाजपा के लोग बेरोजगारी और अर्थव्यवस्था से लोगों का ध्यान हटाने के लिए ये सब कर रहे हैं। गांवों में लोगों के पास दस्तावेज नहीं हैं वो कैसे प्रमाणित करेंगे कि वो इसी देश के रहने वाले हैं। मैं अपना कोई भी दस्तावेज नहीं दिखाऊंगा।


अखिलेश ने कहा कि राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर देश के गरीब, मुसलमान और माइनॉरिटी के खिलाफ है।


दूसरों की चिंता छोड़ मंथन करे कांग्रेस

बहिन मायावती जी का प्रियंका वाड्रा  को जबाव कहा-दूसरों की चिंता करने के बजाए आत्म-चिंतन करे कांग्रेस


लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की तीखी टिप्पणी पर बसपा सुप्रीमो बहिन मायावती जी ने ट्वीट कर जवाब दिया है :- कांग्रेस के 135वें स्थापना दिवस समारोह में शनिवार को राजधानी लखनऊ पहुंची प्रियंका ने समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी पर हमला बोला था उन्होंने कहा था कि दोनों पार्टियां सरकार से डर रही हैं, वह कुछ नहीं कर रही हैं लेकिन कांग्रेस को संघर्ष की चुनौती स्वीकार है कार्यकर्ताओं के दिल में भय और हिंसा नहीं इस पर बहिन मायावती जी ने ट्वीट कर कहा :- कांग्रेस को दूसरों की चिंता के बजाए आत्म-चिंतन करने की सलाह दी है।


बहिन मायावती जी  ने ट्वीट किया है :- कांग्रेस आज अपनी पार्टी के स्थापना दिवस को 'भारत बचाओ, संविधान बचाओ' के रूप में मना रही है इस मौके पर दूसरों पर चिन्ता व्यक्त करने के बजाए कांग्रेस स्वयं अपनी स्थिति पर आत्म-चिन्तन करती है, तो यह बेहतर हो


नहीं भरेंगे एनपीआर, क्या करेंगे आप

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को साफ-साफ शब्दों में कहा है कि वह नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) नहीं भरेंगे। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक लखनऊ में पूर्व सीएम अखिलेश यादव का कहना है कि यदि जरूरत पड़ी तो मैं पहला ऐसा व्यक्ति बनूंगा, जो किसी भी फॉर्म को नहीं भरेगा। लेकिन सवाल यह है कि आप समर्थन करेंगे या नहीं। यादव ने आगे कहा कि हम नहीं भरते एनपीआर, क्या करेंगे आप?


नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर उत्तर प्रदेश समेत देश के कई राज्यों में भड़की हिंसा के बीच अब एनपीआर को लेकर सभी विपक्षी दलों ने मोदी सरकार को घेरने की तैयारी कर ली है। एक तरफ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सीएए के खिलाफ हुई हिंसा के आरोपियों के समर्थन में सड़कों पर हैं। पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने एनपीआर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अखिलेश यादव का कहना है कि वह खुद और न ही समाजवादी पार्टी का कोई कार्यकर्ता इस एनपीआर को भरेगा। उन्होंने कहा कि आज के युवाओं को रोजगार चाहिए ना कि एनपीआर। एनपीआर और एनआरसी हर गरीब और अल्पसंख्यकों के खिलाफ है। हमें पहले कांग्रेस ने नहीं गिना, अब भारतीय जनता पार्टी भी नहीं गिन रही है। अखिलेश यादव ये बातें समाजवादी छात्रसभा की बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कही है।


राजनीतिः रद्द किए कोल ब्लॉक आवंटन

अब्दुल सलाम कादरी 


रांची। केंद्र सरकार ने चार राज्यों के छह कोल ब्लॉक आवंटन को रद्द कर दिया है। शुक्रवार को कोयला मंत्रालय की ओर राज्य की बिजली उत्पादन कंपनियों के साथ छह ब्लॉकों के आवंटन को रद्द कर दिया। इनमें झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र के कोल ब्लॉक शामिल है।चार बिलियन टन कोयले के स्टॉक वाले इन खदानों को 2007-10 के बीच आवंटित किया गया है। बताया जा रहा है कि इस कोल ब्लॉक्स का आवंटन भविष्य की बिजली उत्पादन प्रोजेक्ट के लिए किया गया था। लेकिन इस दिशा में काम आगे नहीं बढ़ने के बाद मोदी सरकार ने इनका आवंटन रद्द कर दिया।


झारखंड के दो कोल ब्लॉक का आवंटन रद्द
केंद्र सरकार ने कुल 4 बिलिटन टन उत्पादन क्षमता वाले छह कोल ब्लॉक्स का आवंटन रद्द किया है। इसमें झारखंड के दो कोल ब्लॉक है। पहला मोरनी (225.4 मीट्रिक टन कोयला) दूसरा केरंदारी जिसमें 916.5 मीट्रिक टन कोयले का भंडारण है। इसके अलावे महाराष्ट्र का भिखुन माइंस (100 मीट्रिक टन), छत्तीसगढ़ का पिंडराखी (421.5 मीट्रिक टन) और पुता पारोगिया (629.2 मीट्रिक टन) और ओडिशा की बनखुई (800 मीट्रिक टन) माइंस शामिल है।


राजस्व पर पड़ेगा असर
झारखंड में फिलहाल सरकारी खजाने की हालत खस्ता है। कर्ज के बोझ तले दबे झारखंड के पास वेतन-भत्ता देने के लिए भी राशि कम पड़ रही है। ऐसे में कोल ब्लॉक का आवंटन रद्द होने से राज्य को राजस्व का और नुकसान उठाना पड़ेगा। सरकार का ये फैसला ऐसे समय में आया है जब मौजूदा वित्त वर्ष में कैप्टिव कोयला उत्पादन 25.1 मीट्रिक टन है, जो 2015 में संचालित 42 ब्लॉक्स में हुए 43.2 मीट्रिक टन से बहुत कम है।


हालांकि, रद्द किये गये 6 कोल ब्लॉक की नीलामी कब की जायेगी, इस बारे में मंत्रालय की ओर से कोई जानकारी नहीं दी गयी है। गौरतलब है कि झारखंड में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी की करारी हार हुई है। और सत्ताधारी भाजपा 25 सीटों पर सिमट गयी, जबकि जेएमएम-कांग्रेस के गठबंधन ने 45 सीटों पर कब्जा जमाते हुए अप्रत्याशित जीत दर्ज की है।अब झारखंड में बीजेपी सत्ता से बाहर है, वहीं केंद्र की मोदी सरकार ने झारखंड के दो कोल ब्लॉक समेत कुछ ब्लॉक का आवंटन रद्द कर दिया, जिससे राज्यों को राजस्व की हानि उठानी पड़ेगी।


प्रेमी युगल ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

जांजगीर-चाम्पा। डभरा थानांतर्गत छुहीपाली में पिछले एक महीने से किराए के घर में रह रहे प्रेमी जोड़े ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना की सुचना मिलते ही डभरा पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज कर मामले की जांच में जुट गई है। फिलहाल आत्महत्या के कारण का पता नहीं चल पाया है। बता दें कि मृतक युवक डभरा तहसील में कंप्यूटर ऑपरेटर के पद पर पदस्थ था।


विचारधारा-नेतृत्व के दोराहे पर खडी कांग्रेस

पूजा सिंह 


नई दिल्ली। कांग्रेस अपना 135 वां स्थापना दिवस एक ऐसे समय पर मना रही है जब वह विचारधारा और नेतृत्व, दोनों मामलों में दोराहे पर खड़ी है। विचारधारा का मामला तो महाराष्ट्र में शिवसेना से गठबंधन कर सरकार बनाने के बाद से थोड़ा नरम पड़ गया है, किंतु नेतृत्व का मामला अभी भी उलझा हुआ दिख रहा है। एक तरफ जहां अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी अपने पुत्र राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनाने के लिए उत्सुक नजर आती हैैं, वहीं आम कांग्रेसी नेताओं में एक ऐसी सोच है कि अभी सोनिया गांधी ही कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व संभाले रहें। कांग्रेसी नेताओं का यह भी मानना है कि दिल्ली में विधानसभा के चुनाव के बाद ही कांग्रेस के नेतृत्व के मुद्दे को देखने और समझने की कोशिश की जानी चाहिए। दिल्ली में अगले महीने ही विधानसभा हो सकते हैैं।
कांग्रेसी नेता राहुल को दोबारा अध्यक्ष के लिए तो तैयार हैं, लेकिन काम के तरीके में चाहते हैं बदलाव…
आज कांग्रेस के अंदर जो हलचल मची है उसका एक दिलचस्प पहलू यह भी है कि महत्वपूर्ण पदों पर बैठे हुए कांग्रेसी नेता इस बात के लिए तो बिल्कुल तैयार नजर आ रहे हैैं कि वह राहुल गांधी को ही दोबारा अपना अध्यक्ष चुन लें, लेकिन इसके साथ ही वे राहुल गांधी के कामकाज करने के तौर-तरीके में थोड़ा बदलाव भी देखना चाहते हैं। उनकी एक-एक उम्मीद यह भी है कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी, दोनों जल्द ही कांग्रेस कार्य समिति का निष्पक्ष चुनाव कराएंगे। देखना है कि ऐसा हो पाता है या नहीं?
दरअसल कांग्रेस में कार्य समिति के चुनाव हमेशा एक बहुत बड़ी चुनौती रहे हैं। वर्ष 1991 में जब पीवी नरसिंह राव कांग्रेस अध्यक्ष बने थे तो उन्होंने तिरुपति में अप्रैल 1992 में चुनाव कराए थे। इसके अलावा दूसरी बार सीताराम केसरी ने कोलकाता में अगस्त 1997 में कांग्रेस कार्य समिति के चुनाव कराए थे। कांग्रेस जन यह चाहते हैं कि कार्य समिति के चुनाव के जरिये कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की भूमिका तय हो जानी चाहिए। खासतौर से उन नेताओं के लिए जो नेहरू-गांधी परिवार के सदस्य नहीं हैैं।
सोनिया गांधी के तकरीबन 20 वर्ष के लंबे अध्यक्षीय कार्यकाल में कांग्रेस में महत्वपूर्ण पद पर ऐसे लोग मौजूद रहे हैैं जो उनके पसंदीदा थे। हालांकि राहुल गांधी ने भी उसी विधि को अपनाते हुए महत्वपूर्ण पदों पर अपने लोगों को बिठाने की कोशिश की, लेकिन उसमें वह पूरी तरह से कामयाब नहीं हुए थे। अब कांग्रेस के जो वरिष्ठ नेता हैं उन्हें डर है कि राहुल गांधी जब कभी वापस आएंगे तो कहीं वह पार्टी में बड़े पदों पर जैसे कार्य समिति के सदस्य, पार्टी के महासचिव या प्रदेश अध्यक्षों को अपनी पसंद से मनोनीत करना न शुरू कर दें।
जाहिर है कि यदि कार्य समिति का चुनाव होगा तो उसमें वरिष्ठता का एक तरीके से क्रम तय हो जाएगा। कांग्रेस कार्य समिति चुनने का अधिकार ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के 1500 सदस्यों को है जो पूरे देश के विभिन्न राज्यों से आते हैं। कांग्रेस के संविधान के अनुसार कांग्रेस कार्य समिति 24 सदस्य की होनी चाहिए। जिसमें 12 सदस्यों का चुनाव होना चाहिए और 12 सदस्यों को कांग्रेस अध्यक्ष मनोनीत कर सकता है। इन 12 सदस्यों में अल्पसंख्यक, महिलाएं और कमजोर तबके के लोग होते हैं।
सोनिया गांधी और राहुल गांधी को पार्टी के अंदर से उठती आवाजों का संज्ञान लेना चाहिए…
एक तथ्य यह भी है कि कांग्रेस कार्य समिति के चुनाव बहुत बार इस बिना पर नहीं किए जाते हैं कि उससे पार्टी में बिखराव हो सकता है और आपसी झगड़े बढ़ सकते हैं। फलस्वरूप कार्य समिति ही कांग्रेस अध्यक्ष को अधिकृत कर देती है कि वह समस्त 24 सदस्यों को मनोनीत कर दें, लेकिन आज पार्टी के अंदर से कुछ आवाजें उठ रही हैं। सोनिया गांधी और राहुल गांधी को पार्टी के अंदर से उठती इन आवाजों का संज्ञान लेना चाहिए।
झारखंड विधानसभा के चुनाव परिणाम आने के बाद कांग्रेस में आशा की एक नई किरण आई है। यहां झारखंड मुक्ति मोर्चा और राष्ट्रीय जनता दल के साथ मिलकर चुनाव लड़ी कांग्रेस को 16 सीटें मिली हैैं। झारखंड चुनाव नतीजों के बाद कांग्रेसी नेताओं को लगता है कि यदि केंद्रीय नेतृत्व पार्टी में सबको साथ लेकर चले तो राज्यों में नतीजे बेहतर हो सकते हैं।
हरियाणा और महाराष्ट्र की तरह झारखंड में भी गांधी परिवार की बहुत सक्रिय भूमिका नहीं थी। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा, दोनों ने प्रचार में हिस्सा तो लिया था, लेकिन गठबंधन के अधिकतर काम हेमंत सोरेन के जिम्मे ही थे। कांग्रेस पार्टी की जिम्मेदारियों के निर्वाह का जिम्मा वहां मौजूद कांग्रेस के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह और दूसरे जमीनी नेताओं पर था। कामकाज की इस परिपाटी में कांग्रेस को उम्मीद से ज्यादा कामयाबी मिली है। उम्मीद है कि यह मॉडल आने वाले समय में रहेगा और चलेगा।
कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व का काम यह है कि वह सबको साथ लेकर चले और जो राष्ट्रीय मुद्दे हैं उस पर एक स्पष्ट नीति तय करे। कार्य समिति के चुनाव होने से उसके जो सदस्य होंगे उनसे भी ऐसी आशा की जाती है कि वे संवेदनशील मुद्दों पर अपनी बात रख रखेंगे। कांग्रेस के अंदर फैसला लेने का अभी जो अधिकार है वह सोनिया गांधी के पास है। उनके सलाहकारों का पार्टी के अंदर या बाहर लोकप्रियता या जनाधार जानने का कोई पैमाना नहीं है।
प्रश्न यह उठता है कि क्या सोनिया गांधी और राहुल गांधी कांग्रेस कार्य समिति का चुनाव करने के लिए तैयार हैं? क्या कांग्रेस दिल्ली में भी एक ऐसी रणनीति अपनाएगी जहां वह पार्टी हित को सब कुछ न मानकर भाजपा के खिलाफ एक गठबंधन तैयार करेगी या फिर उसकी कोई और रणनीति होगी? यह समय ही बताएगा, लेकिन यह समझना आवश्यक है कि कांग्रेस जन और नेहरू-गांधी परिवार का रिश्ता बहुत दिलचस्प ।
एक आम कांग्रेसी सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को अपनी तमाम शक्ति देने को तैयार है। वह उनकी बातों को मानने को भी तैयार रहता है और उनके निर्देश पर अपना सब कुछ गंवाने को तैयार रहता है। वह कुछ पाने की भी इच्छा रखता है, लेकिन उसकी सिर्फ एक ही चाह है कि कांग्रेस सत्ता से दूर न रहे। यह मंत्र सोनिया गांधी बखूबी समझती हैैं। क्या राहुल गांधी यह कर पाएंगे? कांग्रेस का अध्यक्ष बनना तो आसान है, लेकिन उसके साथ इंसाफ कर पाना एक बहुत बड़ी चुनौती है, जो राहुल गांधी को पूरा करना है। क्या वह इसके लिए तैयार हैैं? यह वह सवाल है जिसका जवाब आने वाले दिनों में ही सामने आएगा।


दर्दनाक हादसे में परिवार के 6 लोगों की मौत

अविनाश श्रीवास्तव


गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में सोमवार सुबह हुए एक दर्दनाक हादसे में छह लोगों की मौत हो गई। लोनी बॉर्डर थाना क्षेत्र की मौलाना आजाद कॉलोनी बेहटा हाजीपुर में एक घर के अंदर शॉर्ट सर्किट होने के चलते आग लग गई। इस घटना में एक ही परिवार के 5 बच्चों समेत छह लोगों की आग में झुलसने के चलते मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि उत्तरांचल विहार कॉलोनी में शार्ट सर्किट के कारण घर में रखा फ्रिज अथवा बैटरी इनवर्टर फटने से आग लग गई जिसमें ताई परवीन (40 उम्र) के साथ सो रहे 5 बच्चों की जलने से मौत हो गई।


आग लगने के बाद आसपास के लोग मौके पर पहुंचे लेकिन तब तक आग विकराल रूप धारण कर चुकी थी और ताई सहित पांचों बच्चे मौत का शिकार हो गए। यह परिवार मूल रूप से बागपत जनपद के जानी गांव का रहने वाला है। गत कई वर्षों से लोनी बॉर्डर थाना क्षेत्र उत्तरांचल विहार कॉलोनी में अपने 100 वर्ग गज के मकान में रहता है। पांचों बच्चों के पिता का नाम आसिफ अली बताया जा रहा। है वह मकान की प्रथम मंजिल पर रहता था, जबकि भूतल पर उसका बड़ा भाई युसूफ अपनी पत्नी परवीन के साथ रह रहा था। बताया जा रहा है यूसुफ और आसिफ अपने गांव में किसी शादी समारोह में गए हुए थे पांचों बच्चे रात में भूतल पर अपनी ताई परवीन के सो रहे थे।


पैन आधार से लिंक कराने का 1 दिन शेष

नई दिल्ली। पैनकार्ड को आधार कार्ड से लिंक करवाने का अब मात्र एक दिन शेष है, अगर आपने अभी तक अपने पैन कार्ड को आधार से लिंक नहीं कराया है तो 31 दिसंबर 2019 के बाद एक जनवरी से यह अवैध माना जाएगा। वहीं पैन कार्ड को आधार से लिंक नहीं कराएंगे तो आप निवेश या लोन आदि से जुड़ा कोई भी काम भी नहीं कर पाएंगे।


इसलिए विभाग ने एक बार फिर लोगों से पैन कार्ड को आधार से लिंक करवाने की अपील की है। आयकर विभाग के एक अधिकारी ने इस बारे में जानकारी दी।


अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार ने मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत बैंक अकाउंट, पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करवाना जरूरी कर दिया है, जो लोग ऐसा नहीं करेंगे, उनका पैन कार्ड अमान्य घोषित कर दिया जाएगा। इसलिए आयकर रिटर्न भरने वाले हर व्यक्ति के लिए पैन से आधार को लिंक करना जरूरी है। इसके लिए विभाग पहले भी कई बार लोगों को समय दे चुका है। लोगों को बार-बार हिदायत दी जा रही है कि वह पैन का आधार से लिंक करवा लें।


अब पैन कार्ड से आधार लिंक करने के लिए लोगों के पास मात्र एक दिन का समय बचा है। पैन कार्ड लिंक नहीं होने की स्थिति में अगली बार से ऑनलाइन आईटीआर (रिर्टन) फाइल नहीं कर पाएंगे। टैक्स रिफंड रुक सकता है, साथ ही, पैन कार्ड अवैध हो जाएगा।


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...