शनिवार, 9 जुलाई 2022

बकरीद: चाक-चौबंद रखी जाएंगी, सुरक्षा व्यवस्था

बकरीद: चाक-चौबंद रखी जाएंगी, सुरक्षा व्यवस्था 

अकांशु उपाध्याय/हरिओम उपाध्याय/अश्वनी उपाध्याय 

नई दिल्ली/लखनऊ/गाजियाबाद। देश भर में रविवार को ईद-उल-अजहा (बकरीद) का पर्व मनाया जाएगा। जनपद में बकरीद पर्व पर शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए गाज़ियाबाद पुलिस-प्रशासन ने व्यापक प्रबंध किए हैं। किसी प्रकार की अप्रिय स्थिति से निपटने को हर संभव तैयारियां की गई हैं। बकरीद की नमाज शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने के लिए सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद रखी जाएंगी। सुरक्षा व्यवस्था के लिहाज से पीएसी की एक कंपनी के अलावा 2 हजार पुलिसकर्मियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। संवेदनशील एवं अति संवेदनशील क्षेत्रों में पीएसी जवानों की तैनाती रहेगी। एसएसपी मुनिराज के मुताबिक, बकरीद पर सुरक्षा व्यवस्था संबंधी इंतजाम पूरे कर लिए गए हैं। इसके मद्देनजर 6 एसपी, 10 सीओ, 37 इंस्पेक्टर, 325 दारोगा, 380 हेड कांस्टेबल, 180 महिला कांस्टेबल, 940 सिपाही के अलावा एक कंपनी पीएसी एवं 2 प्लाटून पीएसी आदि की तैनाती की जाएगी। सड़कों पर ईद की नमाज पढऩे पर पाबंदी रहेगी। बकरीद की नमाज ईदगाह व मस्जिद के बाहर सड़क पर नहीं पढ़ी जाएगी। मौलानाओं ने लोगों से सड़क पर भीड़ जमा न करने की अपील की है। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह एवं एसएसपी मुनिराज जी ने कहा कि कोई भी व्यक्ति खुले स्थान पर कुर्बानी नहीं करेगा। मौलानाओं ने भी यह जानकारी लोगों को दे दी है कि वह पर्दे में ही कुर्बानी करें। प्रतिबंधित जानवर की कुर्बानी न करें।

खुले में न फेंके जानवरों के अवशेष...

जानवरों के अवशेष को खुले में न फेंके। साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना है। नगर निगम की गाडिय़ां डोर-टू डोर चक्कर लगाती रहेंगी। वहीं, ड्रोन कैमरों से निगरानी की जाएगी। ईद की नमाज को लेकर पुलिस ने सतर्कता बढ़ा दी है। सभी मस्जिद और ईदगाह पर पुलिस तैनात रहेगी। मस्जिद, ईदगाह व मुस्लिम आबादी वाले क्षेत्र में ड्रोन कैमरों से निगरानी की जाएगी। कानून व्यवस्था बिगाडऩे वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने कहा कि बकरीद का त्योहार शांतिपूर्ण तरीके से मिल जुलकर मनाएं। त्योहार पर किसी भी प्रकार की हुड़दंग एवं छींटाकशी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अफवाहों पर ध्यान न दें।

खुले में कुर्बानी पर पाबंदी...

कुर्बानी खुले में नहीं की जाएगी। बकरीद को शांति व सौहार्दपूर्ण माहौल में संपन्न कराने के लिए जिला प्रशासन की ओर से पूरी तैयारियां की गई है। सभी क्षेत्रों में एडीएम, एसडीएम व एसीएमओ को उनके क्षेत्र आंवटित किए हैं। सिटी मजिस्टे्रट गंभीर सिंह को कोतवाली, विजयनगर, कविनगर, एसडीएम संतोष राय को लोनी क्षेत्र, एसडीएम शुभांगी शुक्ला को मोदीनगर क्षेत्र, एसीएम चंद्रेश कुमार को साहिबाबाद, लिंक रोड, टीला मोड़, बंदोबस्त अधिकारी चकबंदी राजेश कुमार को इंदिरापुरम खोड़ा, कौशांबी और एसीएम शाल्वी अग्रवाल को सिहानी गेट नंदग्राम में तैनात किया गया है। इसके अलावा एडीएम प्रशासन ऋतु सुहास मोदीनगर क्षेत्र, एडीएम सिटी बिपिन कुमार को शहरी क्षेत्र, एडीएम वित्त एवं राजस्व विवेक श्रीवास्तव को लोनी क्षेत्र और एडीएम एलए श्याम अवध चौहान को डासना क्षेत्र में शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रभारी अधिकारी तैनात किया गया है।

10 जुलाई को मनाया जाएगा 'ईद-उल-अजहा' का पर्व

10 जुलाई को मनाया जाएगा 'ईद-उल-अजहा' का पर्व 

सरस्वती उपाध्याय 
इस्लाम धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक बकरीद (ईद-उल-अजहा) का पर्व इस साल 10 जुलाई को मनाया जाएगा। बकरीद को ईद-उल-अजहा नाम से भी जानते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, बकरीद का पर्व त्याग और कुर्बानी के तौर पर मनाया जाता है। बकरीद मनाने के पीछे का कारण हजरत इब्राहिम माने जाते हैं। जानिए, बकरीद का धार्मिक महत्व के साथ इतिहास...

बकरीद का इतिहास...

इस्लाम की धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, हजरत इब्राहीम अल्लाह के पैगंबर थे। एक बार अल्लाह ने उनका इम्तिहान लेना चाहिए और उनसे ख्वाब के माध्यम से कहा कि वह सबसे प्यारी चीज की कुर्बानी दे दें। ऐसे में हजरत इब्राहिम अपने इकलौते बेटे इस्माइल की कुर्बानी देने को तैयार हो गए थे। क्योंकि वहीं एक चीज थी जिसे वह सबसे ज्यादा प्यार करते थे। ऐसे में जब हज़रत इब्राहीम अपने बेटे की कुर्बानी देने जा रहे थे तो उन्हें रास्ते में एक शैतान मिला। उसने उन्हें ऐसा करने से रोकते हुए कहा कि बेटे की कुर्बानी कौन देता है, इसकी जगह आप चाहे तो किसी जानवर को कुर्बानी दे सकते हैं। शैतान की इस बात को हज़रत इब्राहीम को सही समझा। लेकिन वह अपने अल्लाह से झूठ नहीं बोलना चाहते थे और न ही उनके हुक्म की नाफरमानी करना चाहते थे। इसलिए वे बेटे को लेकर आगे बढ़ गए। बेटे की कुर्बानी देते समय उन्होंने अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली ताकि बेटे का मोह अल्लाह की मांग को पूरी करने के बीच में बाधा न बने। कुर्बानी के बाद जब उन्होंने अपनी आंखों से पट्टी हटाई तो देखकर हैरान रह गए कि उनका बेटा सही सलामत खड़ा है और उसकी जगह एक बकरा कुर्बान हो गया है। उसके बाद से ही जानवरों की कुर्बानी देने का चलन शुरू हुआ।

ईद-उल-अजहा (बकरीद) पर ऐसे अदा करें नमाज़...

इस्लाम समुदाय के लोग बकरीद के दिन सूर्योदय के बाद और जुहर की नमाज से पहले ईद उल-अजहा की नमाज अदा कर सकते हैं। ईद अल-अजहा की नमाज़ में दो रकात होती हैं, जिसमें पहली रकात में सात बार तकबीर और दूसरी में पांच बार तकबीर पढ़ी जाती है। ईद की नमाज़ के लिए कोई भी अज़ान नहीं दी जाती है, बस तय वक्त में सभी लोग आकर नमाज़ अदा करते हैं।

बकरीद पर ऐसे दी जाती है कुर्बानी... 

कुर्बानी देने के लिए भी कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है। इस दिन केवल स्वस्थ पशुओं की कुर्बानी दी जाती है। इसके अलावा त्याग का धन ईमानदारी से अर्जित करना चाहिए। गलत तरीके से कमाया गया धन बलिदान नहीं होता है।

सपा संरक्षक मुलायम की पत्नी साधना का निधन हुआ

सपा संरक्षक मुलायम की पत्नी साधना का निधन हुआ

संदीप मिश्र

लखनऊ/गुरुग्राम। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना गुप्ता का शनिवार को निधन हो गया है। वह फेफड़ों के संक्रमण से पीड़ित थी। गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। साधना गुप्ता, बीजेपी नेत्री अपर्णा यादव की सास और प्रतीक यादव की मां थी। साधना गुप्ता का पार्थिव शरीर गुरुग्राम से लखनऊ लाया जाएगा। रविवार को इटावा में अंतिम संस्कार होने की संभावना है। बता दें कि साल 2003 में मुलायम सिंह की पहली पत्नी और अखिलेश यादव की मां मालती देवी का निधन हो गया था। जिसके कुछ दिन बाद सपा नेता ने खुद से 20 साल छोटी साधना गुप्ता को दूसरी पत्नी का दर्जा दिया था।

साधना गुप्ता उत्तर प्रदेश के इटावा के बिधुना तहसील की रहने वाली थी। 4 जुलाई 1986 में उनकी शादी फर्रुखाबाद के चंद्रप्रकाश गुप्ता से शादी हुई थी। इनकी शादी के बाद 7 जुलाई 1987 में प्रतीक यादव का जन्म हुआ था। इसके दो साल बाद साधना और चंद्रप्रकाश अलग हो गए थे। इसके बाद साधना गुप्ता सपा के तत्कालीन सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के संपर्क में आई थी। बताया जाता है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे मुलायम सिंह यादव की मां मूर्ति देवी बीमार रहती थी। उस दौरान नर्सिंग की ट्रेनिंग कर रहीं साधना गुप्ता ने लखनऊ के एक नर्सिंग होम और फिर सैफई मेडिकल कॉलेज में मूर्ति देवी का काफी ख्याल रखा था। ऐसा कहा जाता है कि उसी समय से मुलायम और साधना एक-दूसरे के करीब आए थे।

श्रीलंका के प्रधानमंत्री विक्रमसिंगे ने इस्तीफा दिया

श्रीलंका के प्रधानमंत्री विक्रमसिंगे ने इस्तीफा दिया

अखिलेश पांडेय 
कोलंबो। श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंगे ने इस्तीफा दिया है। वहीं, राष्ट्रपति गोटबाय भी अपना इस्तीफा दे सकते है। इस्तीफा देने के बाद रानिल ने कहा कि नागरिको की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए ये फैसला लिया गया है। बता दें, कि इस्तीफे से पहले श्रीलंका में आर्थिक हालात से त्रस्त जनता ने शनिवार को राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के आवास पर कब्जा कर लिया। 
वहीं, राष्ट्रपति अपना आवास छोड़कर भाग गए हैं। इस बीच हालात काबू में करने के लिए श्रीलंका के मौजूदा प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने पार्टी नेताओं की आपात बैठक बुलाई और अपना इस्तीफा दे दिया। उधर, श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना (एसएलपीपी) के 16 सांसदों ने पत्र लिखकर राष्ट्रपति से तत्काल इस्तीफा देने की अपील की है।

राजनीति: कांग्रेस ने 5 नए राष्ट्रीय सचिवों की नियुक्ति की

राजनीति: कांग्रेस ने 5 नए राष्ट्रीय सचिवों की नियुक्ति की

अकांशु उपाध्याय          

नई दिल्ली। कांग्रेस ने शनिवार को पांच नए राष्ट्रीय सचिवों की नियुक्ति की, जो पार्टी महासचिव और कर्नाटक के प्रभारी रणदीप सुरजेवाला के साथ संबद्ध होंगे। इसके साथ ही, कर्नाटक के लिए राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) का भी गठन किया गया है। सुरजेवाला इस पीएसी के संयोजक होंगे। पार्टी के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल के अनुसार, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने डी श्रीधर बाबू, पीसी विष्णुनाथ, रोजी एम जॉन,मयूर जयकुमार और अभिषेक दत्त को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का सचिव नियुक्त किया। ये सभी सचिव कांग्रेस के कर्नाटक प्रभारी सुरजेवाला के साथ संबद्ध होंगे। राज्य में अगले साल के मध्य में विधानसभा चुना होना है।

उधर, कांग्रेस ने कुलदीप राय शर्मा और रमिंदर सिंह आवला को एआईसीसी के सचिव की जिम्मेदारी से मुक्त किया है। कांग्रेस ने कर्नाटक के लिए जिस पीएसी का गठन किया है उसमें सुरजेवाला के अलावा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डी के शिवकुमार, पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और कई अन्य वरिष्ठ नेता शामिल हैं।

अंतरराज्यीय सोना तस्करी रैकेट का भंडाफोड़, 5 अरेस्ट

अंतरराज्यीय सोना तस्करी रैकेट का भंडाफोड़, 5 अरेस्ट

विमलेश यादव

शिलोंग। मेघालय के पुलिस महानिदेशक एल. आर. बिश्नोई ने शनिवार को कहा कि राज्य पुलिस ने एक अंतरराज्यीय सोना तस्करी रैकेट का भंडाफोड़ किया और पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। बिश्नोई ने कहा कि पुलिस ने गिरफ्तार किए गए पांच लोगों के कब्जे से 800 ग्राम से अधिक सोना और 27 लाख रुपये नकद बरामद किया है। डीजीपी ने कहा कि गुप्त सूचना के आधार पर 24 जून को असम जा रहे राज्य के री-भोई जिला निवासी अबू बकर नामक एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया। उस के पास से 819 ग्राम विदेशी सोने के बिस्कुट बरामद हुए, जिसे उसने अपनी बेल्ट में छिपाकर रखा था। बिश्नोई ने कहा कि पूछताछ के दौरान यह पता चला कि यह गिरोह काफी बड़ा है, क्योंकि शिलांग में किसी ने बकर को यह सोना दिया था और उसे असम के बारपेटा तक पहुंचाने का काम सौंपा गया था। बकर से मिली सूचना के बाद बारपेटा के शाहजहां को असम पुलिस के साथ एक संयुक्त अभियान में गिरफ्तार किया गया और उसके पास से 27 लाख रुपये नकद जब्त किए गए।

उसके साथी सिद्दीकी अली को भी बारपेटा से गिरफ्तार किया गया। इसके बाद, एक टीम का गठन किया गया और दोनों से मिले सुराग के आधार पर यहां छापे मारे गए और यहां लाबान के अजीज लिंगदोह और मवलाई के सुबली खरबानी को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार पांच लोगों के कब्जे से 10 मोबाइल फोन, एटीएम कार्ड और फर्जी आईडी कार्ड जब्त किए गए हैं। डीजीपी ने कहा कि आगे की जांच जारी है। मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के. संगमा ने अंतरराज्यीय सोना तस्करी रैकेट का भंडाफोड़ करने के लिए राज्य पुलिस की सराहना की। मुख्यमंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘मेघालय पुलिस का एक बार फिर शानदार प्रदर्शन।’’ उन्होंने लिखा, अंतरराज्यीय सोना तस्करी रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है। री-भोई पुलिस ने 24 जून को एक टैक्सी को रोका और 15 दिनों के सूझबूझ भरे अभियान में पांच आरोपियों की गिरफ्तारी हुई और 819 ग्राम सोना, 27.11 लाख रुपये नकद, 10 मोबाइल फोन, एटीएम/नकली आई-कार्ड बरामद हुए।

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को कंट्रोल करेगा, बालासन

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को कंट्रोल करेगा, बालासन

सरस्वती उपाध्याय
हाई ब्लड प्रेशर एक बहुत बड़ा खतरा बन चुका है। लोग तमाम दवाइयां खाते हैं और हाई ब्लड प्रेशर से निजात पाने के लिए काफी कोशिश करते हैं। तमाम कोशिशों के बाद भी हाई ब्लड प्रेशर से राहत नहीं मिल पाती है। ब्लड प्रेशर अधिक हो या फिर कम उसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, क्योंकि हाई ब्लड प्रेशर के कारण आपको हार्ट संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। ब्लड प्रेशर की समस्या कई कारणों से हो सकती है, जिसमें तनाव से भरी लाइफस्टाइल, मोटापा, धूम्रपान आदि शामिल हैं। हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए आप नियमित रूप से व्यायाम कर सकते हैं‌। इससे न केवल बीपी की समस्या से आपको निजात मिलेगी, बल्कि यह कई रोगों से बचा सकता है। योग के जरिए इसका समाधान निकाला जा सकता है। भारतीय योग शास्त्र में कुछ ऐसे आसन बताए गए हैं, जिनके जरिए उच्च रक्तचाप पर नियंत्रण पाया जा सकता है। आइए इसके बारे में जानते हैं...

रिपोर्ट के अनुसार, हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा ज्यादा होता है। हाई ब्लड प्रेशर को साइलेंट किलर भी कहा जाता है। हाई ब्लड प्रेशर के लिए जिम्मेदार आपका खानपान, आपकी दिनचर्या, समेत रोज मर्रा की गलतियां हैं। आप इसके मरीज कब बन जाएंगे, आपको इस बात का पता भी नहीं चलेगा। इसमें अचानक से आपका ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है, पसीना, घबराहट, सांस लेने में तकलीफ समेत कई समस्याएं देखने को मिलती हैं। अक्सर लोग हाई ब्लड प्रेशर से घबराकर दवाओं की तरफ बढ़ जाते हैं। दवाई खाते हैं, कुछ देर के लिए आराम होता है और उसके बाद फिर से वही समस्याएं घेरने लगती हैं। दवाओं के तमाम साइड इफेक्ट भी देखने को मिलते हैं और अगर आप लगातार दवाई खाते रहेंगे तो आप एक तरीके से दवाओं के गुलाम बन जाएंगे और उसकी वजह से अन्य बीमारियां भी धीरे-धीरे आपके शरीर का हिस्सा बन जाएंगी।

योग प्राचीनतम चिकित्सा पद्धति है और यह मानव जीवन के लिए सबसे स्वस्थ पद्धति है। योग का कोई साइड इफेक्ट नहीं है और अगर आप नियमित योग का अभ्यास करते हैं तो लाभ क्षणिक नहीं होता है। बल्कि पूरे जीवन आप स्वस्थ रहेंगे। हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को इसलिए योग का सहारा लेने की सलाह दी जाती है। बालासन इसमें काफी फायदेमंद साबित होता है। इसको चाइल्ड पोज भी कहते हैं। यह काफी आसान होता है और कहीं भी आप इस आसन को कर सकते हैं। इससे हाई ब्लड प्रेशर से राहत मिलती है। और साथ ही यह तनाव को भी कम करता है और पूरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को सही कर देता है। इस आसन से गर्दन और कंधों का तनाव भी कम होता है।

बालासन खुद को आराम देने का एक आसन है। बज्रासन की मुद्रा में पहले जमीन पर बैठ जाएं, इसके बाद सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाएं, हथेलियां जोड़ें न इसके बाद सांस छोड़ते हुए हाथ लंबा रखते हुए सामने की तरफ झुकना है, जोर कूल्हों पर हो न कि कमर पर। जब आपकी हथेलियां और आपका माथा जमीन को छू जाए तब रुक जाएं। अब आप बालासन में आ गए हैं, लंबी सांस अंदर लें और लंबी सांस बाहर छोड़ें। 30 सेकंड से 5 मिनट तक बालासन कर सकते हैं।

भाजपा के नेताओं का आतंकी-अपराधियों के साथ संबंध

भाजपा के नेताओं का आतंकी-अपराधियों के साथ संबंध 

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली/रांची। कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता अलका लांबा ने भाजपा पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा के नेताओं का आतंकी और अपराधियों के साथ संबंध है। लांबा ने शनिवार को झारखंड प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में भाजपा पर आरोप लगाया कि पवित्र अमरनाथ यात्रा के दौरान हिंसा की साजिश रचने वाला आतंकी तालिब हुसैन शाह का रिश्ता भी भाजपा नेताओं से है।
लांबा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी आतंकवाद पर राजनीति के पक्ष में कभी नहीं रही है। लेकिन आज जो हालात हैं और जिस तरह से एक के बाद एक घटनाओं में लगातार आतंकियों तथा अपराधियों के तार भाजपा से जुड़े मिले हैं वैसे में सवाल पूछना जरूरी हो जाता है। आप भी सोचिए और समझिए कि भाजपा राष्ट्रवाद की आड़ में देश के साथ कितना घिनौना खेल खेल रही हैं।
उन्होंने कहा कि पिछले दिनों उदयपुर में कन्हैया लाल की हत्या में शामिल एक आरोपी मोहम्मद रियाज अंसारी भाजपा का कार्यकर्ता निकला। इसने बाकायदा भाजपा के नेताओं की उपस्थिति में पार्टी की सदस्यता ली थी। मीडिया रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई है कि रियाज राजस्थान विधानसभा में भाजपा के नेता और पूर्व मंत्री गुलाबचंद कटारिया के दामाद एवं पूर्व पार्षद अतुल चंडालिया की फैक्ट्री में काम कर चुका है। इसे भाजपा के कई कार्यक्रमों में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ देखा गया है।
लांबा ने कहा कि मीडिया रिपोर्ट में ये बात भी सामने आई है कि महाराष्ट्र के अमरावती में केमिस्ट उमेश कोल्हे की हत्या के कथित मास्टरमाइंड इरफान खान का निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा से संबंध हैं। और राणा दंपति का भाजपा से क्या रिश्ता है ये किसी से छिपा नहीं है। इरफान खान राणा दंपति के लिए प्रचार करता था और वोट मांगता था।

मार्च: तिरंगा लहराते हुए ‘जय श्री राम’ के नारे लगाएं

मार्च: तिरंगा लहराते हुए ‘जय श्री राम’ के नारे लगाएं

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। दिल्ली में हिंदू संगठनों ने ‘समुदाय पर हो रहे हमलों’ के खिलाफ शनिवार को ‘संकल्प मार्च’ निकाला। जिसमें शामिल लोगों ने तिरंगा लहराते हुए ‘जय श्री राम’ के नारे लगाएं। मार्च मंडी हाउस इलाके से शुरू होकर जंतर मंतर पर खत्म हुआ। इस मार्च में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा और कपिल मिश्रा ने भी हिस्सा लिया।
उत्तरी दिल्ली के पूर्व महापौर अवतार सिंह ने कहा, ”इस ‘संकल्प मार्च’ के लिए आज कई हिंदू समूह सड़कों पर हैं। हम यहां हिंदुओं पर हमलों के खिलाफ आवाज उठाने के लिए एकत्रित हुए हैं। उन्हें इस तरह से निशाना नहीं बनाया जा सकता। हमें निशाना बनाने वालों को हम छोड़ेंगे नहीं।” मार्च के कारण मध्य दिल्ली में कई सड़कों को अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया।यातायात पुलिस ने ट्विटर पर यात्रियों को सुबह आठ बजे से दोपहर दो बजे के बीच सिकंदरा रोड, बाराखंभा रोड, कॉपरनिकस मार्ग, फिरोज शाह रोड, भगवान दास रोड, कस्तूरबा गांधी मार्ग, टॉलस्टॉय मार्ग, संसद मार्ग, कनॉट प्लेस, पटेल चौक और जनपथ की तरफ जाने से बचने की सलाह दी।

अपराध: कलयुगी प‍िता ने 4 साल के बच्‍चे की हत्‍या की

अपराध: कलयुगी प‍िता ने 4 साल के बच्‍चे की हत्‍या की 

दुष्यंत टीकम 
बिलासपुर। छत्‍तीसगढ़ के बि‍लासपुर ज‍िले से एक कलयुगी पिता की हैरान कर देने वाली हरकत सामने आई है। जहां कलयुगी प‍िता ने अपने ही 4 साल के बच्‍चे की हत्‍या कर दी। वहीं, पुल‍िस ने जब मामले की जांच की, तो हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ। पुल‍िस अब इस बात का पता लगा रही है क‍ि ऐसी कौन-सी वजह रही, ज‍िसकी वजह से प‍िता ने अपने ही मासूम बेटे की हत्‍या कर दी।
बता दें, कि ब‍िलासपुर में सीपत क्षेत्र के सेलर में बच्चे दिव्यांश उर्फ शौर्य उर्फ बल्ला का शव घर के गली में मिलने का मामला सामने आया था। पुलिस की शुरूआती पूछताछ में पिता द्वारा हत्या किए जाने की बात कबूली गई है। वहीं, मामलें में विवेचना अभी जारी है। इलाके में चार साल के मासूम का शव म‍िलने से आसपास के लोग भी हैरान रह गए। 
आस-पास के लोगों को समझ नहीं आ रहा था क‍ि आख‍िर ऐसा कौन निर्दयी होगी ज‍िसने मासूम की इस बेदर्दी से हत्‍या कर दी। एसपी स्नेहिल साहू ने इस बारे में बताया कि हमें सूचना म‍िली थी क‍ि गली में एक मासूम बच्‍चे का शव पड़ा है। जब इस घटना के साक्ष्‍य देखे तो ऐसा लगा क‍ि घर के ही सदस्‍य का इसमें हाथ हो सकता है। तब हमने बच्‍चे के प‍िता से पूछताछ की तो उसने पूरी बात उगल दी। कुछ समय में पूरे मामले का पुलिस खुलासा करेगी।

भर्तियों की प्रक्रियाओं का सिलसिला धीरे-धीरे खत्म हुआ

भर्तियों की प्रक्रियाओं का सिलसिला धीरे-धीरे खत्म हुआ 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से सरकारी नौकरियों में भर्तियों की प्रक्रियाओं का सिलसिला धीरे-धीरे खत्म हुआ है और जिन युवाओं ने नौकरियों के लिए परीक्षाएं दी हैं, उन परीक्षाओं के परिणाम घोषित नहीं किए जा रहे हैं। वाड्रा ने कहा कि वर्ष 2018 में जो बच्चे एसएससी-जीडी परीक्षा की भर्ती में शामिल हुए वे सत्याग्रह कर रहे हैं और उनके पांव में छाले पड़ गए हैं। लेकिन सरकार पसीज रही है और भर्तियों पर लगे ताले नहीं खुल रहे हैं।
उन्होंने कहा “एसएससी-जीडी 2018 भर्ती में नियुक्ति के लिए सत्याग्रह कर रहे युवाओं के पैरों में छाले पड़ चुके हैं। लेकिन भाजपा राज में सरकारी भर्तियों पर ताले लग चुके हैं। नरेंद्र मोदी जी क्या इन युवाओं की मेहनत और संघर्ष का कोई मोल नहीं है। इनकी बात सुनिए, नियुक्ति दीजिए।इसके साथ ही उन्होंने एक खबर का वीडियो पोस्ट किया है। जिसमें कहा गया है कि अर्धसैनिक बलों में भर्ती के लिए भाजपा सरकार का छलावा, एसएससी जीडी 2018 के अभ्यर्थियों को आज तक नहीं मिला नियुक्ति-पत्र। वीडियो में नियुक्ति की मांग को लेकर सत्याग्रह कर रहे कई युवाओं के पांव में चलते-चलते छाले पड़ गए हैं और कई युवतियां बेहोश हो रही हैं।

ऑपरेशन: लड़की की स्पाइन को रस्सी से बनाया

ऑपरेशन: लड़की की स्पाइन को रस्सी से बनाया

अखिलेश पांडेय
अम्मान। जॉर्डन चोट, सेबरल पाल्सी, मसल्स डिसट्रॉफी या अन्य कारणों से रीढ़ की हड्डी में घुमाव आ जाता है। इस स्थिति को स्कोलियोसिस कहते हैं। ऐसी स्थिति में रीढ़ की हड्डी एक तरफ घूम जाती है और देखने में इंसान एक ओर झुका हुआ लगता है। हाल ही में एक मामला सामने आया है। जिसमें 13 साल की एक लड़की को भी यही समस्या थी। डॉक्टर्स की टीम ने इस लड़की का सफलतापूर्वक ऑपरेशन किया और लड़की की स्पाइन को रस्सी से बनाया। यह लड़की धीरे-धीरे ठीक हो रही है, तो चलिए जानते है रस्सी की सहायता डॉक्टर्स ने रीढ़ की हड्डी को कैसे सपोर्ट दिया।
सलमा नसेर नवसेह नाम की यह लड़की अरब कंट्री जॉर्डन की रहने वाली है। उसका ऑपरेशन दुबई के बुर्जील हॉस्पिटल में हुआ। 13 साल की सलमा की कुछ समय पहले वर्टेब्रल बॉडी टेदरिंग (वीबीटी) सर्जरी हुई है। इस सर्जरी में रस्सी से रीढ़ की हड्डी को सपोर्ट दिया जाता है और फिर उसे स्क्रू से कस दिया जाता है। स्क्रू की सहायता से रस्सी को उतना कसा जाता है, जब तक रीढ़ का घुमाव सही ना हो जाए। एक बार जब रीढ़ सही स्थिति में पहुंच जाती है फिर रीढ़ के हर हिस्से में पेंच लगा दिए जाते हैं। डॉक्टर्स के मुताबिक, सलमा सर्जरी के अगले ही दिन से चलने लगी थी।
दुबई के बुर्जील अस्पताल में ऑपरेशन के बाद सलमा रिकवर हो रही है। डॉक्टर्स का कहना है कि वह जल्द ही पहले की तरह टेनिस खेल पाएगी। जानकारी के मुताबिक, सलमा के पैरेन्ट्स ने अप्रैल 2022 में पहले बार नोटिस किया था कि उनकी बेटी का शरीर एक तरफ झुक रहा है। फिर जब डॉक्टर्स को दिखाया तो उन्होंने बताया कि उनकी बेटी को स्कोलियोसिस है। सलमा की रीढ़ में 65 डिग्री का घुमाव आ गया था।

दूरसंचार स्पेक्ट्रम हासिल करने की दौड़, योजना

दूरसंचार स्पेक्ट्रम हासिल करने की दौड़, योजना  

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। अडानी ग्रुप अब टेलीकाम बिजनेस में भी आने की तैयारी में हैं। सूत्रों के मुताबिक, अरबपति कारोबारी गौतम अडानी का समूह 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी में शामिल हो रहा है। यह ग्रुप दूरसंचार स्पेक्ट्रम हासिल करने की दौड़ में शामिल होने की योजना बना रहा है। ऐसी स्थिति में अडाणी समूह का मुकाबला सीधे रिलायंस जियो और दूरसंचार क्षेत्र के दिग्गज सुनील भारती मित्तल की एयरटेल से होगा।
पांचवीं पीढ़ी या 5जी दूरसंचार सेवाओं जैसे अत्यधिक उच्च गति वाला इंटरनेट संपर्क प्रदान करने में सक्षम इन एयरवेव की नीलामी में भाग लेने के लिए आवेदन शनिवार को कम से कम चार आवेदकों के साथ बंद हुए। ये नीलामी 26 जुलाई को होनी है।
मामले की जानकारी रखने वाले तीन सूत्रों ने बताया कि दूरसंचार क्षेत्र की तीन निजी कंपनियों – जियो, एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने आवेदन किया है। सूत्रों में से एक ने कहा कि चौथा आवेदक अडानी समूह है। समूह ने हाल ही में राष्ट्रीय लंबी दूरी (एनएलडी) और अंतरराष्ट्रीय लंबी दूरी (आईएलडी) के लिए लाइसेंस हासिल किया था।
लेकिन, स्वतंत्र रूप से इस दावे की पुष्टि नहीं हो सकी है। इस संबंध में अडानी समूह को भेजे गए ईमेल और फोन कॉल का कोई जवाब नहीं मिला। नीलामी की समय सीमा के अनुसार आवेदकों के स्वामित्व का विवरण 12 जुलाई को प्रकाशित किया जाएगा।
दूरसंचार स्पेक्ट्रम की नीलामी 26 जुलाई, 2022 से शुरू हो रही है। इस दौरान कम से कम 4.3 लाख करोड़ रुपये के कुल 72,097.85 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की पेशकश की जाएगी। अडानी ग्रुप बंदरगाह से लेकर कोयला, ऊर्जा वितरण और विमानन क्षेत्र में मौजूद है। अब इससे कयास लगाए जा रहे हैं कि यह ग्रुप टेलीकाम सेक्टर में भी आएगा। अडानी ने हाल के महीनों में पेट्रोकेमिकल कारोबार में प्रवेश के लिए एक सहायक कंपनी बनाई है।

बीजेपी का प्रचार, कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा

बीजेपी का प्रचार, कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा 

अकांशु उपाध्याय/गीता गोवंडके 
नई दिल्ली/मुरैना। एमपी नगरीय निकाय चुनाव के दूसरे चरण के लिए बीजेपी का प्रचार तेज हो गया है। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी आखिरी दौर में मुरैना में मोर्चा संभाल लिया है। उन्होंने बीजेपी प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार करते हुए कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। सिंधिया ने कहा कि 2018 में एक सरकार बनी थी, जिसे केवल दो लोग चलाते थे। लेकिन जब विचारधारा से हटे तो सबको पता है, क्या हुआ ?
आपको बात दे की सिंधिया ने बीजेपी प्रत्याशी मीना जाटव के पक्ष में वोट करने की अपील करते हुए कहा कि ”आप मीना जाटव को महापौर बनाए क्योंकि कांग्रेस ने मुरैना में कोई काम नहीं किया है। क्योंकि ये लोग चुनाव जीतने के बाद अपना मुंह भी केवल एक बार दिखाते हैं। अगर आपने उनका महापौर प्रत्याशी चुन लिया तो वे पांच साल तक मुंह नहीं दिखाएंगे। इस दौरान सिंधिया ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि चुन लिया तो वे पांच साल तक मुंह नहीं दिखाएंगे।
वही, सिंधिया ने दिग्विजय सिंह और कमलनाथ को लेकर कहा कि कांग्रेस की सरकार केवल इन्ही दो लोगों की जेब में रहती थी। जब हमारी विचारधारा से हटकर चली तो हमने पटखनी देकर धूल चटा दी, इस दौरान सिंधिया न जनता पूछा कि हमने सही किया कि नहीं। इस दौरान केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने नरेद्र सिंह तोमर की भी जमकर तारीफ की उन्होंने कहा कि तोमर ने मुरैना के लिए बहुत विकास किया है। इसलिए सभी देवतुल्य मतदाताओं से अधिकाधिक मतदान करने भाजपा प्रत्याशियों को विजयी बनाने का अनुरोध किया।

48वें दिन भी पेट्रोल-डीजल के दाम में बदलाव नहीं

48वें दिन भी पेट्रोल-डीजल के दाम में बदलाव नहीं

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। शनिवार को एक बार फिर पेट्रोल-डीजल के नए दाम जारी किए जा चुके हैं। बीते कई शनिवार की तरह यह शनिवार भी राहतभरा है। हालाँकि, 100 डॉलर प्रत‍ि बैरल के नीचे पहुंचने वाले क्रूड के दाम में मामूली तेजी देखी गई। दरअसल, डब्‍ल्‍यूटीआई क्रूड का भाव 102.5 डॉलर प्रत‍ि बैरल पर पहुंच गया। वहीं, ब्रेंट क्रूड 104.4 डॉलर प्रत‍ि बैरल पर पहुंच गया। इसके अलावा हम आपको यह भी जानकारी दे देते, कि पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार 48वें दिन भी कोई बदलाव नहीं हुआ है। इस समय सबसे सस्ता पेट्रोल पोर्ट ब्लेयर में 84.10 रुपये है और डीजल ₹79.74 लीटर है। इसी के साथ इस समय दिल्‍ली में पेट्रोल 96.72 रुपये लीटर मिल रहा है। कंपनियों ने 6 अप्रैल के बाद से इसकी कीमतों में कोई बढ़ोतरी नहीं की है।
जबकि क्रूड के भाव एक समय 140 डॉलर प्रति बैरल तक चले गए थे। मंगलवार सुबह ब्रेंट क्रूड का भाव 113.8 डॉलर प्रति बैरल रहा, जो पिछले सप्‍ताह 119 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गया था। आप भी अपने शहर के पेट्रोल-डीजल के दाम रोजाना SMS के जरिए भी चेक कर सकते है। गतिविधियां तेज होने, गर्मियों की छुट्टियों में लोगों के यात्राएं करने तथा फसल बुवाई शुरू हो जाने से जून में भारत में पेट्रोल और डीजल की बिक्री बढ़ गई है। इसी के साथ उद्योग के शुरुआती आंकड़ों में बताया है कि बुवाई का मौसम शुरू होने से डीजल की मांग दो अंक में बढ़ी है। वहीं डीजल की बिक्री सालाना आधार पर 35.2 प्रतिशत बढ़कर जून में 73.8 लाख टन पर पहुंच गई। दरअसल यह जून, 2019 की तुलना में 10.5 प्रतिशत और जून, 2020 के मुकाबले 33.3 फीसदी अधिक है।

लोगों को ‘राजनीतिक अवसरवाद’ के लिए बांटा जा रहा

लोगों को ‘राजनीतिक अवसरवाद’ के लिए बांटा जा रहा

मिनाक्षी लोढी
कोलकाता। नोबेल पुरस्कार से सम्मानित अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने शनिवार को कहा कि देश के लोगों को ‘‘राजनीतिक अवसरवाद’’ के लिए बांटा जा रहा है। सेन ने इस बात पर भी अफसोस जताया कि राजनीतिक कारणों से लोगों को कैद करने की औपनिवेशिक प्रथा भारत को आजादी मिलने के दशकों बाद भी जारी है। उन्होंने ‘आनंदबाजार पत्रिका’ के शताब्दी समारोह को डिजिटल माध्यम से संबोधित करते हुए कहा, ‘‘भारतीयों को बांटने की कोशिश हो रही है…राजनीतिक अवसरवाद के कारण हिंदुओं और मुसलमानों के सह-अस्तित्व में दरार पैदा की जा रही है।
’’ इस दैनिक का पहला संस्करण 13 मार्च, 1922 को प्रकाशित हुआ था। प्रफुल्ल कुमार सरकार इसके संस्थापक-संपादक थे। सेन (88) ने कहा, ‘‘उस समय (1922) देश में कई लोगों को राजनीतिक कारणों से जेल में डाल दिया गया था … मैं तब बहुत छोटा था और अक्सर सवाल करता था कि क्या बिना कोई अपराध किए लोगों को जेल भेजने की यह प्रथा कभी बंद होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसके बाद, भारत आजाद हो गया, लेकिन यह प्रथा अभी भी जारी है।

राष्ट्रपति चुनाव, सरकार से आग्रह करना शामिल रहेगा

राष्ट्रपति चुनाव, सरकार से आग्रह करना शामिल रहेगा

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने शनिवार को कहा कि अगर वह निर्वाचित होते हैं तो उनकी प्राथमिकताओं में कश्मीर मुद्दे का स्थायी रूप से हल करना और केंद्र शासित प्रदेश में शांति, न्याय, लोकतंत्र तथा सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए सरकार से आग्रह करना शामिल रहेगा।
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्व नेता सिन्हा राष्ट्रपति चुनाव में अपने पक्ष में समर्थन जुटाने के लिए केंद्र शासित प्रदेश के एक दिवसीय दौरे पर हैं। जम्मू कश्मीर में अभी कोई विधानसभा नहीं है। केंद्र शासित प्रदेश से पांच लोकसभा सदस्य हैं, इनमें तीन नेशनल कॉन्फ्रेंस से और दो भाजपा से हैं। आज की तारीख में जम्मू कश्मीर से राज्यसभा में एक भी सदस्य नहीं हैं।
सिन्हा ने यहां संवाददाताओं से कहा, अगर निर्वाचित होता हूं तो मैं बिना किसी डर या पक्षपात के संविधान के संरक्षक के रूप में अपना कर्तव्य निभाऊंगा। मेरी प्राथमिकताओं में कश्मीर मुद्दे को स्थायी रूप से हल करने और शांति, न्याय, लोकतंत्र, सामान्य स्थिति बहाल करने तथा जम्मू कश्मीर के समग्र विकास के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने का सरकार से आग्रह करना शामिल रहेगा।
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह बेहद खेदजनक है कि केंद्र सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 और 35 ए को निरस्त किए जाने के लगभग तीन साल बाद भी उच्चतम न्यायालय ने इससे संबंधित मामले की सुनवाई शुरू नहीं की है। उन्होंने कहा, संवैधानिक मामले लंबित रहने से शीर्ष अदालत की विश्वसनीयता पर असर पड़ता है।
साथ ही, उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा बहाल किया जाना चाहिए तथा विधानसभा के लिए स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव जल्द से जल्द होना चाहिए। उन्होंने कहा, मैं जम्मू कश्मीर में जबरन और हेरफेर करने वाले जनसांख्यिकीय परिवर्तन का विरोध करता हूं।’’ सिन्हा ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार कश्मीरी पंडितों की सुरक्षित और सम्मानजनक वापसी और पुनर्वास के लिए स्थितियां बनाने के अपने वादे में विफल रही है।
उन्होंने कहा, इसे न केवल कश्मीरी पंडितों के लिए बल्कि उन सभी लोगों के लिए भी वादा पूरा करना चाहिए, जिन्हें कश्मीर से पलायन करने करने के लिए मजबूर किया गया था। सिन्हा ने कहा, ‘‘जून 2020 में एक सर्वदलीय बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘‘दिल की दूरी’’ और ‘‘दिल्ली की दूरी’’ को हटाने का वादा किया था। दो साल से अधिक समय बीत चुका है और वादा अधूरा है। सिन्हा ने कहा कि राष्ट्रपति पद के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को लेकर उनके मन में बहुत सम्मान है।
उन्होंने कहा, हालांकि, मैं उनसे वही प्रतिज्ञा और वादे करने का आग्रह करता हूं जो मैंने किए हैं। जम्मू कश्मीर के लोग भी उनसे इस आश्वासन की उम्मीद करते हैं। सिन्हा ने कहा कि उनसे उनकी श्रीनगर यात्रा का कारण पूछा गया क्योंकि राष्ट्रपति चुनाव में जम्मू कश्मीर का बड़े पैमाने पर प्रतिनिधित्व नहीं है। सिन्हा ने कहा, मैंने उनसे कहा कि मैं जम्मू कश्मीर के लोगों के साथ हुए अन्याय को उजागर करने के लिए श्रीनगर जा रहा हूं। मैं चाहता हूं कि शेष भारत के लोग यह जानें कि कैसे जम्मू कश्मीर में उनके हमवतन लोगों से उनके मौलिक और लोकतांत्रिक अधिकार छीन लिए गए हैं।

गृहमंत्री की अध्यक्षता में उत्तर क्षेत्रीय परिषद की बैठक

गृहमंत्री की अध्यक्षता में उत्तर क्षेत्रीय परिषद की बैठक  

नरेश राघानी 
जयपुर। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में शनिवार को यहां एक होटल में कड़ी सुरक्षा के बीच उत्तर क्षेत्रीय परिषद की बैठक शुरू हो गई।
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बैठक सुबह 11 बजे शुरू हुई। बैठक में आंतरिक सुरक्षा, सड़क, परिवहन, उद्योग, पानी, बिजली और आम हितों के अन्य मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर, लद्दाख के उपराज्यपाल राधा कृष्ण माथुर, दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना, पंजाब के राज्यपाल और चंडीगढ़ के प्रशासक बनवारीलाल पुरोहित व इन राज्यों के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में मौजूद हैं।

विजयपुरा: 4.4 तीव्रता का भूकंप, झटके महसूस किए

विजयपुरा: 4.4 तीव्रता का भूकंप, झटके महसूस किए 

इकबाल अंसारी 
बेंगलुरु। कर्नाटक के विजयपुरा जिले में शनिवार सुबह 4.4 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए। कर्नाटक राज्य प्राकृतिक आपदा निगरानी केंद्र (केएसएनडीएमसी) ने एक बयान में बताया कि भूकंप सुबह छह बजकर 22 मिनट पर आया और उसका केंद्र ‘‘विजयपुरा जिले में विजयपुर तालुक, कन्नूर जीपी से 2.3 किलोमीटर उत्तरपश्चिम में स्थित था।
’’ केएसएनडीएमसी निदेशक मनोज राजन ने बताया कि भूकंप की तीव्रता मध्यम रही और हो सकता है कि भूकंप के केंद्र से 30-40 किलोमीटर की दूरी तक भी झटके महसूस किए गए हो। उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह के भूकंप से स्थानीय समुदाय को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा क्योंकि यह मध्यम तीव्रता का है, हालांकि, स्थानीय झटके महसूस किए गए होंगे। भूकंप का केंद्र भूकंपीय क्षेत्र तृतीय के तहत आता है और टेक्टोनिक मानचित्र के अनुसार यह क्षेत्र किसी भी संरचनात्मक असंतुलन से रहित है।’

सहायक प्रोफेसर के पदों पर बंपर भर्तियां निकाली

सहायक प्रोफेसर के पदों पर बंपर भर्तियां निकाली

हरिओम उपाध्याय 
लखनऊ। अगर आप सरकारी नौकरी की तलाश में हैं तो ये खबर आपके लिए बेहद खास हो सकती है। दरअसल, उत्तर प्रदेश उच्च शिक्षा सेवा आयोग द्वारा सहायक प्रोफेसर के पदों पर बंपर भर्तियां निकाली गई हैं। वे कैंडिडेट्स जो यूपीएचईएससी के असिस्टेंट प्रोफेसर पदों पर आवेदन करने के इच्छुक हों, वे ऑफिशियल वेबसाइट से अप्लाई कर सकते हैं। ऐसा करने के लिए उत्तर प्रदेश हायर एजुकेशन सर्विस कमीशन की ऑफिशियल वेबसाइट का पता है – uphesc.org‌‌। ये भी जान लें कि इन पदों पर आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसलिए जल्द से जल्द अप्लाई कर दें। बता दें यूपीएचईएससी के सहायक प्रोफेसर  पदों पर अप्लाई करने की लास्ट डेट 07 अगस्त 2022 है। इसके साथ ही फीस जमा करने की आखिरी तारीख 08 अगस्त 2022 है। इस रिक्रूटमेंट ड्राइव के माध्यम से कुल 917 पद भरे जाएंगे।
वहीं अगर शैक्षणिक योग्यता की बात करें तो इन पदों पर अप्लाई करने के लिए कैंडिडेट के पास किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से संबंधित विषय में कम से कम 55 प्रतिशत अंकों के साथ मास्टर्स डिग्री होनी चाहिए। इनके लिए अधिकतम आयु सीमा 62 वर्ष तय की गई है। वहीं आवेदन शुल्क सामान्य और अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए ₹2000 और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए ₹1000 है। आवेदन शुल्क का भुगतान ऑनलाइन मोड के माध्यम से ही किया जाना चाहिए। अधिक जानकारी पाने के लिए उम्मीदवार यूपीएचईएससी की ऑफिशियल साइट देख सकते हैं।

श्रीलंका: अपने आधिकारिक आवास से भागे 'राष्ट्रपति'

श्रीलंका: अपने आधिकारिक आवास से भागे 'राष्ट्रपति'

सुनील श्रीवास्तव
कोलंबो। श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे शनिवार को कथित तौर पर अपने आधिकारिक आवास से भाग गए हैं, क्योंकि प्रदर्शनकारियों ने कोलंबो में उनके घर को घेर लिया था। श्रीलंका के राष्ट्रपति लगातार अपने पद नहीं छोड़ने की जिद पर अड़े हुए थे और उन्होंने साफ कर दिया था, कि वो किसी भी हाल में देश के राष्ट्रपति का पद नहीं छोड़ेंगे, लेकिन प्रदर्शनकारियों को अपने घर के आगे आया देख राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे अपने आधिकारिक आवास को छोड़कर फरार हो गये हैं।
श्रीलंका में पिछले कई महीनों से भारी आर्थिक संकट फैला हुआ है और देश का विदेशी मुद्रा भंडार खाली हो चुका है और श्रीलंका के पास ना पेट्रोल है और ना ही डीजल। माना जाता है कि, राजपक्षे सरकार की खराब आर्थिक नीतियों की वजह से देश में ये आर्थिक संकट आया है और पिछले हफ्ते श्रीलंकन प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघ ने देश की संसद में ऐलान किया था, कि अब श्रीलंका दिवालिया हो चुका है। श्रीलंका में पिछले कई महीनों से प्रदर्शन किए जा रहे हैं और राजधानी कोलंबो में एक चौराहे पर मार्च महीने से लोग श्रीलंका की राजपक्षे सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं, स्थिति उस वक्त बिगड़ी, जब हजारों लोगों की भीड़ पर श्रीलंका की पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागने शुरू कर दिए। जिससे भड़के लोगों ने राष्ट्रपति आवास की तरफ कूच करना शुरू कर दिया। इससे पहले राष्ट्रपति गोतबया राजपक्षे के बड़े भाई महिंदा राजपक्षे, जो दो महीने पहले तक प्रधानमंत्री थे, वो भी लोगों के डर से फरार हो चुके हैं और श्रीलंका नौसेना के कैंप में रह रहे हैं।

उत्तराखंड में अत्यंत भारी वर्षा होने की संभावना

उत्तराखंड में अत्यंत भारी वर्षा होने की संभावना

पंकज कपूर
देहरादून/हल्द्वानी। मौसम विज्ञान विभाग, देहरादून द्वारा दिनांक 9 जुलाई को प्रातः तात्कालिक मौसम पूर्वानुमान के अनुसार उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर, पौड़ी तथा नैनीताल जनपदों के कुछ स्थानों में भारी से बहुत भारी वर्षा होने के साथ कहीं-कहीं अत्यंत भारी वर्षा होने की संभावना है।
जानकारी देते हुए जिला मजिस्ट्रेट श्री धीराज सिंह गर्ब्याल ने समस्त सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि किसी भी आपदा / दुर्घटना की स्थिति में त्वरित स्थलीय निरीक्षण की कार्यवाही करते हुए सूचनाओं का तत्काल आदान प्रदान किया जाएं। 
इसके साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग, लोनिवि, पीएमजीएसवाई, एडीबी, विश्व बैंक को किसी भी मोटर मार्ग के बाधित होने की दशा में उसे तत्काल खुलवाने के निर्देश दिए है। समस्त सम्बन्धित अधिकरी किसी भी प्रकार की आपदा की सूचना जिला आपदा नियंत्रण कक्ष के फोन नम्बर 05942-231178-179 पर तत्काल देना सुनिश्चित करें। आईआरएस टीम में नामित अधिकारियों को एलर्ट रहने के भी निर्देश दिए है।
जिला मजिस्ट्रेट ने समस्त चौकी / थानों को आपदा संम्बन्धी उपकरणों एवं वायरलैस सहित हाई अलर्ट में रहने, साथ ही उक्त अवधि में लोगों के फंसे होने की स्थिति पर खाद्य सामग्री व मेडिकल की व्यवस्था की जाये। नगर एवं कस्बाई क्षेत्रों में नालियों एवं कलवटों के अवरोधों को दूर किया जाएं। उन्होंने निर्देश दिया है कि आपदा के दौरान किसी भी अधिकारी / कर्मचारी के मोबाईल फोन स्विच ऑफ नहीं रहेंगे।

प्रदेश और रतलाम का विकास नहीं किया गया: सीएम

प्रदेश और रतलाम का विकास नहीं किया गया: सीएम 

मनोज सिंह ठाकुर 
भोपाल/रतलाम। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए शनिवार को कहा कि इनकी सरकार में प्रदेश और रतलाम का विकास नहीं किया गया। चौहान ने यहां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महापौर प्रत्याशी के समर्थन में रोड शो एवं जनसभा को संबोधित किया।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मध्य प्रदेश और रतलाम का कभी विकास नहीं किया। हमारी भाजपा सरकार ने रतलाम को मेडिकल कॉलेज दिया। रतलाम के विकास के लिए वह खजाने का मुंह खोल देंगे। धन की कमी कभी आड़े नहीं आने दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्षद भाई बहन आपको ऐसे ही विनम्र बने रहना। जनता की सेवा का व्रत आपने स्वीकार किया है, तो जनता को प्रणाम करते रहना, जनता की सेवा करते रहना।
उन्होंने कहा कि रतलाम में घर-घर पेयजल और सीवेज सिस्टम को दुरुस्त करके नागरिक सुविधाओं को बेहतर किया जाएगा। रतलाम में 18 हजार करोड़ रुपए के उद्योग आएंगे, जिससे 25 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। श्री चौहान ने कहा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास यही हमारा मूल मंत्र है। आप सबके अनन्य प्रेम और आशीर्वाद से वे मध्यप्रदेश की सेवा में लगे हुए हैं। इससे पहले चौहान के रतलाम आगमन पर स्थानीय नागरिकों और भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं एवं जनप्रतिनिधियों ने आत्मीय स्वागत किया।

हरित ईंधन के इस्तेमाल होने का भरोसा जताया

हरित ईंधन के इस्तेमाल होने का भरोसा जताया 

अकांशु उपाध्याय/कविता गर्ग 
नई दिल्ली/नागपुर। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने पांच साल बाद देश में सभी वाहनों में हरित ईंधन के इस्तेमाल होने का भरोसा जताया है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि आने वाले सालों में वाहनों में पेट्रोल की उपयोगिता पूरी तरह से खत्म हो जाएगी। गडकरी ने बृहस्पतिवार यानी सात जुलाई को महाराष्ट्र के अकोला में एक बयान में यह बात कही। केंद्रीय मंत्री को अकोला में ही डॉ पंजाबराव देशमुख कृषि विद्यापीठ द्वारा डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया था।
यहां भाषण के दौरान उन्होंने हरित हाइड्रोजन, एथेऩॉल और अन्य हरित ईंधन के उपयोग पर जोर दिया। उन्होंने कहा, “मुझे पूरा विश्वास है कि पांच साल बाद देश से पेट्रोल खत्म हो जाएगा। आपकी कारें और स्कूटर पूरी तरह हरित हाइड्रोजन, एथेनॉल, सीएनजी या एलएनजी पर आधारित होंगे।” गडकरी ने कृषि शोधकर्ताओं और विशेषज्ञों से अगले पांच वर्षों में कृषि वृद्धि दर को 12 प्रतिशत से बढ़ाकर 20 प्रतिशत करने के लिए काम करने की भी अपील की।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 18,840 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 18,840 नए मामलें 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के पिछले 24 घंटे में 18,840 नए मामलें सामने आये हैं। जिससे संक्रमितों की संख्या बढ़कर 43604394 हो गई है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शनिवार को जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में राष्ट्रीय कोविड टीकाकरण अभियान के तहत 12,26,795 टीके लगाये गये। जिससे अब तक 198 करोड़ 65 लाख 36 हजार 288 टीके लगाये जा चुके है। इसी अवधि में 16104 मरीजों के स्वस्थ होने पर संक्रमण मुक्त होने वालों की संख्या कुल 42953980 हो गई और इसी अवधि में 43 मरीजों की मौत होने से मृतकों की संख्या 525386 हो गयी है।
देश में कोरोना मृत्यु दर 1.20 प्रतिशत और रिकवरी दर 98.51 प्रतिशत है। देश में पिछले 24 घंटों में 2693 सक्रिय मामले सामने आये है जिससे इनकी संख्या बढ़कर 125028 हो गई है। इसी दौरान देश में चार लाख 54 हजार 778 कोविड परीक्षण किए गये हैं। देश में कुल 86 करोड़ 61 लाख 77 हजार 957 कोरोना परीक्षण किए जा चुके हैं।

हादसा: एमपी सरकार ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया

हादसा: एमपी सरकार ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया 

मनोज सिंह ठाकुर 
भोपाल। अमरनाथ गुफा बाढ़ हादसे के बाद वहां फंसे प्रदेश के निवासियों के लिए मध्य प्रदेश सरकार ने एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ अमरनाथ यात्रा के दौरान बादल फटने की घटना के कारण वहां फंसे प्रदेश के निवासियों की जानकारी और सहायता के लिए मध्य प्रदेश द्वारा हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं।
मप्र के शहरों से जानकारी और मदद के लिए 181 और बाहर के लोगों के लिए 0755-2555582 पर संपर्क करना चाहिए।’’ उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर में अमरनाथ की पवित्र गुफा के पास बादल फटने के कारण अचानक आयी बाढ़ के चलते 16 तीर्थ यात्रियों की मौत हो गई।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  

1. अंक-274, (वर्ष-05)
2. रविवार, जुलाई 10, 2022
3. शक-1944, आषाढ़, शुक्ल-पक्ष, तिथि-एकादशी, विक्रमी सवंत-2079।
4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:15।
5. न्‍यूनतम तापमान- 26 डी.सै., अधिकतम-36+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन

अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन  अविनाश श्रीवास्तव  चक्की। प्रखंड की अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन किया गया। जि...