मंगलवार, 21 जून 2022

योगेश्वर 'संपादकीय'

योगेश्वर    'संपादकीय' 

योग भारतीय संस्कृति का एक अभिन्न अंग है। योग-प्राणायाम सनातन संस्कृति में एक विशेष महत्व रखता है। पुरातन काल से योग-साधना का वर्णन किया गया है। कई साधक-तपस्वियों ने योगी पद प्राप्त किया है। भगवान श्री कृष्ण को 'योगेश्वर' नाम से संबोधित भी किया गया है। अर्थात, योगियों के ईश्वर का वर्णन भी किया गया है। इससे यह तथ्य स्पष्ट हो जाता है कि योग की उत्पत्ति और सामूहिक उपयोग का सदैव भारत में प्रचलन रहा है। योग के महत्व को विश्व स्तर पर प्रचारित करने का श्रेय माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जाता है। आज 'विश्व योग दिवस' पर संपूर्ण विश्व में योगासन अभ्यास किए गए। इस माध्यम से योग-आसन को विश्व में बढ़ावा देने का प्रयास किया जा रहा है। आधुनिकता और प्रतिस्पर्धा की होड़ में योग के लाभ को जन-जन तक पहुंचाने का सराहनीय प्रयास किया जा रहा है। यह जनकल्याण की भावना को प्रदर्शित भी करता है। लेकिन दिखावा कुछ ज्यादा हो गया है। योग दिवस पर योगासन करते हुए फोटो-वीडियो को प्रचारित करना योगासन का परिहास हो गया है। योग हमारे जीवन में दैनिक गतिविधियों में सम्मिलित होना चाहिए। असाध्य व जटिल रोग मुक्ति का एक सरल साधन योग हैं। इंद्रियों और ज्ञानेंद्रियों पर नियंत्रण प्राप्त करने का एकमात्र उपाय योग हैं। 
हालांकि इसके विपरीत कुपोषित-अव्यवस्थित वर्ग इस मर्म से अनभिज्ञ हैं।कुपोषण-भुखमरी के कारण चटनी के साथ रूखा-सूखा खाने वाले व्यक्ति को योग की कोई आवश्यकता नहीं पड़ती है। न तो उनके शरीर में इतनी चर्बी चढ़ी होती है और नए कोई वसा वाला भोजन ही उन्हें प्राप्त होता है। जिसके कारण वसा से होने वाला कोई रोग उत्पन्न हो। ऐसी स्थिति में योग के उपभोग का कोई औचित्य ही नहीं रह जाता है। परंतु जीवन पर मोटापा बोझ बनने लगता है। शरीर रोगों का घर बन जाता है। ऐसी स्थिति में योग का विशेष महत्व हो जाता है। योग की सख्त आवश्यकता वालों की संख्या भारत की कुल आबादी की 20 प्रतिशत से अधिक नहीं है। इसके विपरीत कुपोषण के शिकार, भुखमरी से जुझने वालों की संख्या 80 प्रतिशत के लगभग है। सीधे तौर पर कहा जाए तो योग की सख्त आवश्यकता मात्र 20 प्रतिशत लोगों को ही है। 80 प्रतिशत लोगों को योग कि नहीं पौष्टिक भोजन की है। कुपोषण के शिकार भुखमरी से जुझने वालों की संख्या 4 गुना अधिक है। 
ऐसी स्थिति में जो खर्च योग शिविरों के आयोजनों पर किया जा रहा है। यदि वह धन कुपोषित वर्ग के प्रति खर्च किया जाए तो कुछ लोग, कुछ समय तक भरपेट पौष्टिक भोजन कर सकते हैं। ऐसा नहीं है कि नमक-मिर्च की चटनी और रुखा-सुखा भोजन उनकी जटाग्नि शांत नहीं कर पाता है। पेट तो खूब पानी पीकर भी भर जाता है। किंतु आवश्यक तत्वों की आपूर्ति नहीं हो पाती है। 'योगेश्वर' की इतनी अनुकंपा तो उन पर बनी हुई है। इसके बाद तो हमें खुद के गिरेबान में झांकने की जरूरत है।
राधेश्याम   'निर्भयपुत्र'

111 गैर मान्यता प्राप्त पंजीकृत दलों को सूची से हटाया

111 गैर मान्यता प्राप्त पंजीकृत दलों को सूची से हटाया

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। चुनावी सुधारों को लेकर गंभीर चुनाव आयोग ने देश के और 111 गैर मान्यता प्राप्त पंजीकृत राजनीतिक दलों को अपनी सूची से हटा दिया है। साथ ही इनके चुनाव चिन्ह और मिलने वाली सभी तरह की सुविधाएं भी छीन ली हैं। बता दें कि निर्वाचन आयोग इससे पहले भी 87 गैर मान्यता प्राप्त पंजीकृत राजनीतिक दलों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई कर चुका है। बता दें कि चुनाव आयोग ने गैर मान्यता प्राप्त पंजीकृत राजनीतिक दलों के खिलाफ सख्त कदम उठाने के संकेत पिछले दिनों ही दिए थे। इसमें 21 सौ से ज्यादा दलों को नियमों का पालन नहीं करने का आरोपित पाया गया था। आयोग ने इन सभी दलों को नोटिस भी जारी किया था।इनमें से तीन ऐसे दल भी थे, जो गंभीर वित्तीय अनियमितताओं में शामिल पाए गए है। यह कार्रवाई वित्तीय वर्ष 2017-18, 2018-19 और 2019-20 की रिपोर्ट के आधार पर की है। इसमें बड़ी संख्या में आयोग को चंदे से जुड़ी कोई जानकारी नहीं दी है। अकेले वर्ष 2019-20 में ऐसे दलों की संख्या 23 सौ से अधिक है। जिसके बाद से चुनाव आयोग सभी दलों की जांच पड़ताल में लग गई है।

चुनाव सुधार की इस मुहिम में चुनाव आयोग ने अब राजनीतिक दलों को मिलने वाले छोटे-छोटे चंदे पर भी नजर रखने की रणनीति तैयार करने में जुटा है। इसमें राजनीतिक दलों को ऐसे सभी चंदे का ब्योरा भी देना होगा, जो भले ही 20 हजार से कम होगा।आयोग के मुताबिक राजनीतिक दल 20-20 हजार से कम की राशि में कई किस्तों में लेकर ब्योरा देने से बच जाते है। आयोग से जुड़े सूत्रों के मुताबिक कानून मंत्रालय को इस संबंध में प्रस्ताव भेजा गया है। जैसे ही इसकी मंजूरी मिल जाएगी, इसे लागू कर दिया जाएगा।इसके इसके अलावा एक व्यक्ति से एक सीट से ही चुनाव लड़ने की व्यवस्था करने पर भी विचार किया जा रहा है। अगर कोई प्रत्याशी दो जगहों से लड़ेगा और एक सीट छोड़ेगा, तो चुनाव का पूरा खर्च उससे लिए जाने आदि का प्रस्ताव शामिल है।

'ध्रुवीकरण-कुशासन’ से ध्यान भटकाने का आरोप लगाया

'ध्रुवीकरण-कुशासन’ से ध्यान भटकाने का आरोप लगाया

इकबाल अंसारी  
दिसपुर। असम विधानसभा में विपक्ष के नेता देवव्रत सैकिया ने मंगलवार को राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेतृत्व वाली सरकार पर ‘ध्रुवीकरण’ और ‘कुशासन’ से ध्यान भटकाने का आरोप लगाते हुए कहा, “आप कुछ समय के लिए लोगों को बेवकूफ बना सकते हैं। लेकिन हर समय नहीं”। सैकिया ने विश्वास व्यक्त किया कि कांग्रेस जमीनी स्तर पर अपने काम को अंजाम देने के लिए हरसंभव प्रयत्न करेगी।
सैकिया ने यूनीवार्ता को दिए एक विशेष साक्षात्कार में मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा के ‘मदरसा’ वाले बयान के बारे में कहा, “सत्तारूढ भाजपा ने कुछ मुद्दों को जानबूझकर अपने ‘कुशासन’ से लोगों का ध्यान भटकाने और वोटों का ‘ध्रुवीकरण’ करने के मकसद से बनाया है। यह मुख्यमंत्री सरमा और भाजपा को एजेंडे का हिस्सा है। हम इसके खिलाफ जमकर लड़ेंगे।”  सरमा ने पिछले महीने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया था कि ‘मदरसा’ शब्द विलुप्त हो जाना चाहिए, क्योंकि यदि यह शब्द बच्चों के दिमाग घर कर गया तो वे इंजीनियर और डॉक्टर नहीं बन सकते।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने असम मवेशी संरक्षण विधेयक, 2021 का जिक्र किया। जिसे सत्तारूढ़ भाजपा ने पूर्वोत्तर राज्य में लगातार दूसरी बार सत्ता में आने के बाद कुछ महीनों बाद विधानसभा में पारित होने के लिए लाया गया था। उन्होंंने कहा कि वर्ष की शुरूआत में सरकार गाय संरक्षण विधेयक लाई। इस संबंध में हमारे पास पहले से ही 1950 का कानून था। असम मवेशी संरक्षण अधिनियम, 2021, मवेशियों के वध कर उनकोे खाने और अवैध परिवहन को विनियमित करके उनके संरक्षण के लिए एक अधिनियम है।
सैकिया ने भाजपा सरकार पर सभी मोर्चों में विफल रहने का आरोप लगाते हुए कहा, “असम के लिए 2016-2025 तक के भाजपा के विजन दस्तावेजों का क्या हुआ। पहले ही छह साल को समय निकल गया है लेकिन वे विधानसभा चुनाव से पहले उनके द्वारा की गई प्रमुख घोषणाओं को लागू नहीं कर सके। असम का सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी और गरीबी उन्मूलन है। सरकार सभी मोर्चों में असफल रही है।” उन्होंने सत्ता पक्ष पर हमला बोलते हुए कहा, “आप कुछ समय तक जनता को बेवकूफ बना सकते हैं लेकिन हर समय नहीं।
” असम में लगातार बारिश के कारण बाढ़ की मौजूदा स्थिति का जिक्र करते हुए सैकिया ने इस संबंध में सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा और दावा किया कि राज्य पिछले कुछ वर्षों में केंद्रीय सहायता से वंचित रहा है। नजीरा विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक ने कहा, “भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा ‘डबल इंजन’ सरकार के फायदे का जिक्र करते रहते हैं। केंद्र के साथ-साथ राज्य में भी सत्ता में रहने के बावजूद मोदी सरकार ने आज तक असम को कोई केंद्रीय सहायता नहीं दी है।
जबकि अन्य राज्यों गुजरात, तमिलनाडु और ओडिशा को केन्द्र से सहायता मिली है।” सैकिया ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा, “ भाजपा ने असम की बाढ़ और कटाव को प्राकृतिक आपदा घोषित करने का वादा किया। मुझे उम्मीद है कि पार्टी अपना वादा नहीं भूली होगी और उसे निभाएगी। मुझे उम्मीद है की पार्टी अपना वादा पूरा करेगी। असम में बाढ़ और कटाव से पिछले तीन-चार वर्षों में हुए नुकसान को कम करने के लिए सरकार को तत्काल विशेष केंद्रीय राहत के रूप में 20,000 करोड़ रुपये जारी करने चाहिए।
” आम आदमी पार्टी (आप) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के राज्य के राजनीति में आने पर सैकिया ने कहा, “कुछ नए लोग आए हैं। मुझे नहीं लगता कि वर्ष 2024 के आम चुनाव से पहले इतने थोड़े समय के भीतर वे ज्यादा असर नहीं डाल सकेंगे और जीत दर्ज नहीं कर पाएंगे।” उन्होंने कहा, “राज्य में केवल कांग्रेस ही भाजपा को कड़ी टक्कर दे सकती है और पार्टी इस संबंध में जमीनी स्तर पर काम कर रही है।
वर्ष 2014, 2016, 2019 और 2021 में जनता को बहलाया गया था। वर्ष 2024 में जनता फिर से झूठे वादों में नहीं आयेगी।” नेशनल हेराल्ड मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से पूछताछ के बारे में सैकिया ने इसे ‘राजनीतिक प्रतिशोध’ करार दिया।  सैकिया ने नयी भर्ती के अग्निपथ योजना पर कहा, “यह भविष्य की संभावनाओं के बिना एक संविदात्मक नौकरी की तरह है। सरकार को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए।” उन्होंने युवा को इस योजना के खिलाफ प्रदर्शन करने की अपील की और कहा कि वे लोकतांत्रिक तरीके से अपना अधिकार के मामले को उठाये लेकिन सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान नहीं पहुंचायें।

लापरवाही: बिजली के तार टूटने से 5 मवेशियों की मौंत

लापरवाही: बिजली के तार टूटने से 5 मवेशियों की मौंत 

दुष्यंत टीकम
गरियाबंद। गरियाबंद जिले के धुरसा गाँव मे मंगलवार को बड़ा हादसा हो गया। मिली जानकारी के मुताबिक तालाब के करीब ट्यूबवेल के लिए गए बिजली के तार टूटने से चारा चरने गए मवेशी करेंट की चपेट में आ गए। जिसके चलते मौके पर ही 5 मवेशियों की मौंत हो गई। इस पूरे मामले में विद्युत विभाग की लापरवाही सामने आई है।
ट्यूबवेल के लिए गए तार के टूटने के चलते ये बड़ा हादसा हुआ है। जिसके चलते 5 बेजुबान जानवरों की मौंत हो गई। बता दें, कि ग्रामीण क्षेत्र में इन दिनों खेती किसानी का कार्य भी प्रारंभ है।
ऐसे में ग्रामीण भी खेतों की ओर जाते है। विद्युत विभाग की इस लापरवाही का नतीजा और भी भयावह हो सकता था। वक़्त रहते अगर विभाग टूटे हुए बिजली के तार हटा लेता, तो ये हादसा नही होता।

बरेली-शाहजहांपुर के बीच हादसा, 5 युवकों की मौंत

बरेली-शाहजहांपुर के बीच हादसा, 5 युवकों की मौंत 

संदीप मिश्र/पंकज कपूर      
शाहजहांपुर/बरेली/रामनगर। मंगलवार की सुबह भीषण सड़क हादसे में रामनगर के 5 युवकों की मौंत हो गई। युवक रामनगर के मोहल्ला गुलरघट्टी के रहने वाले थे। बताया जा रहा है कि वे सभी लोग रामनगर से उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में स्थित बिलग्राम शरीफ जा रहे थे। उनकी कार को ट्रक ने टक्कर मारी है। बताया जा रहा कि हादसा मंगलवार सुबह बरेली-शाहजहांपुर के बीच हुआ।
टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि कार के परखच्चे उड़ गए। 
सुबह करीब 5:00 बजे ट्रक ने युवकों की कार को टक्कर मार दी। जिससे कार में सवार 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि 2 कारों से 10 लोग सवार होकर बिलग्राम शरीफ जा रहे थे। जहां एक कार को ट्रक ने टक्कर मार दी। सभी मृतक रामनगर के गुलरघट्टी के रहने वाले थे। जिनका नाम इमरान खान, ताहिर, मुजम्मिल ,सगीर और फरीद है। मृतकों में से एक मेडिकल स्टोर के स्वामी का भाई था।सूचना के बाद मृतकों के परिजन घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं। वहीं, इस दुखद खबर से रामनगर में शोक की लहर है।

राष्ट्रपति ने 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' पर बधाई दी

राष्ट्रपति ने 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' पर बधाई दी 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंगलवार को 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' पर लोगों को बधाई देते हुए कहा कि योग मानवता को भारत का उपहार है और यह स्वास्थ्य एवं कुशलक्षेम के लिए एक समग्र दृष्टिकोण है, जो तन, मन तथा आत्मा को संतुलित करता है। उन्होंने सभी से योग को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाने और इसके लाभ का अनुभव करने के लिए भी कहा। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस हर साल 21 जून को मनाया जाता है।
कोविंद ने ट्वीट किया, ‘‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की बधाई। योग हमारी प्राचीन भारतीय विरासत का एक हिस्सा है। योग मानवता को भारत का उपहार, यह स्वास्थ्य एवं कुशलक्षेम के लिए एक समग्र दृष्टिकोण है। हमारे तन, मन और आत्मा को संतुलित करता है। मैं सभी से योग को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाने और इसके लाभ का अनुभव करने का आग्रह करता हूं।’’ राष्ट्रपति भवन ने अन्य लोगों के साथ योगाभ्यास करते हुए राष्ट्रपति की तस्वीरें भी ट्विटर पर साझा की।

तकनीकी खराबी के कारण सेवाएं बाधित रहीं

तकनीकी खराबी के कारण सेवाएं बाधित रहीं 

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। मेट्रो की येलो लाइन के एक हिस्से पर तकनीकी खराबी के कारण मंगलवार दोपहर को करीब एक घंटे तक सेवाएं बाधित रहीं। सूत्रों ने बताया कि ओएचई (ओवरहेड उपकरण) संबंधी कोई समस्या पैदा हो गई थी। येलो लाइन दिल्ली के समयपुर बादली और गुरुग्राम के हुडा सिटी सेंटर को जोड़ती है। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने दोपहर करीब एक बजे ट्वीट किया, ''येलो लाइन संबंधी ताजा जानकारी, समयपुर बादली और विश्वविद्यालय के बीच सेवाओं में विलंब। अन्य सभी लाइन पर सेवाएं सामान्य।'' डीएमआरसी ने दोपहर करीब दो बजे एक अन्य ट्वीट कर बताया कि सामान्य सेवाएं बहाल हो गई हैं।मेट्रो की ब्लू लाइन पर जून में कई बार सेवाएं बाधित हुई हैं। ब्लू लाइन दिल्ली के द्वारका सेक्टर 21 और नोएडा के इलेक्ट्रानिक सिटी को जोड़ती है। यमुना बैंक मेट्रो स्टेशन से इसकी एक शाखा गाजियाबाद के वैशाली तक जाती है।

दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) के अधिकारियों ने बताया था कि मंडी हाउस में एक ट्रेन में आई गड़बड़ी के कारण रविवार को सेवाएं कुछ देर बाधित रहीं। इससे पहले, नौ जून को ब्लू लाइन पर एक बड़ी तकनीकी गड़बड़ी आने के कारण यात्री दो घंटे से अधिक समय तक फंसे रहे थे। इसी लाइन पर छह जून को तकनीकी गड़बड़ी के कारण डेढ़ घंटे सेवाएं बाधित रही थीं।


राज्य में 'एमवीए' सरकार को कोई खतरा नहीं: पटोले

राज्य में 'एमवीए' सरकार को कोई खतरा नहीं: पटोले 

कविता गर्ग  
नागपुर। कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख नाना पटोले ने मंगलवार को कहा कि राज्य में महा विकास आघाडी (एमवीए) सरकार को कोई खतरा नहीं है और उनकी पार्टी के नेता मुंबई में बैठक के दौरान राज्य में वर्तमान राजनीतिक घटनाक्रम पर चर्चा करेंगे। पटोले का बयान महाराष्ट्र के मंत्री एकनाथ शिंदे और शिवसेना के कुछ अन्य विधायकों के गुजरात के सूरत शहर में डेरा डालने के मद्देनजर आया है।
गौरतलब है कि शिवसेना नीत महा विकास आघाडी (एमवीए) को महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में छह में से एक सीट पर हार मिलने के बाद सोमवार को झटका लगा था। शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस एमवीए के घटक दल हैं। शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस में से प्रत्येक ने विधान परिषद की 10 सीट के लिये हुए चुनाव में दो-दो उम्मीदवार उतारे थे, लेकिन कांग्रेस के दलित प्रत्याशी चंद्रकांत हंडोरे को हार का सामना करना पड़ा।
वहीं, विपक्षी भाजपा के सभी पांच उम्मीदवार जीतने में कामयाब रहे। पटोले ने मंगलवार को नागपुर में महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट को लेकर आरोप लगाया कि यह देश में चल रही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राजनीति का हिस्सा है। कांग्रेस नेता ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘भाजपा केंद्र में उसके पास मौजूद ताकत का दुरुपयोग कर रही है और यह बात अब किसी से छुपी नहीं है। धन-ताकत का चक्र चल रहा है। वे झूठ के मार्ग पर चल रहे हैं, लेकिन जीत सच्चाई की होगी। यह दौर भी गुजर जाएगा।
’’ पटोले ने बताया कि कांग्रेस की राज्य इकाई के नेता दिन में बाद में मुंबई में बैठक करेंगे, जिसमें ‘‘जो कुछ भी हो रहा है, उस बारे में रुख तय करेंगे।’’ उन्होंने कहा कि एमवीए सरकार को कोई खतरा नहीं है। पटोले ने दावा किया कि (288 सदस्यीय राज्य विधानसभा में) बहुमत का आंकड़ा प्राप्त करना भाजपा के लिए एक दूर का सपना है। विधान परिषद चुनाव में कांग्रेस विधायकों के ‘क्रॉस वोटिंग’ करने से जुड़े सवाल के जवाब में पटोले ने कहा, ‘‘क्रॉस वोटिंग हुई है। हम इसकी समीक्षा करेंगे और इस बारे में आला कमान को सूचित करेंगे।
’’ इस बीच, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने शिंदे के शिवसेना के कुछ विधायकों के साथ गुजरात के एक होटल में डेरा डालने पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। बहरहाल, उन्होंने कहा कि विधान परिषद चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार की हार चिंता का विषय है।

अभिनेत्री सैनन ने अपना वर्कआउट वीडियो शेयर किया

अभिनेत्री सैनन ने अपना वर्कआउट वीडियो शेयर किया

कविता गर्ग  
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री कृति सैनन ने सोशल मीडिया पर अपना वर्कआउट वीडियो शेयर किया है। कृति सैनन अपनी डेली लाइफ में बेहद व्यस्त रहती है लेकिन वह कभी भी फिटनेस और रूटीन को पूरा करने से पीछे नहीं हटती हैं। कृति ने इंस्टाग्राम पर वर्कआउट का वीडियो शेयर किया है। 
कृति सैनन ने पोस्ट शेयर करते हुए लिखा 'एक्सरसाइज से मै प्यार करती हूं, शायद इसलिए कि मैं उन्हें अच्छी तरह से कर सकती हूं'। इस वीडियो में कृति के साथ उनके पर्सनल ट्रेनर करण साहनी भी नजर आ रहे हैं। कृति ने हाल ही में अपना फिटनेस ब्रांड 'द ट्राइब' भी लांच किया है।

हादसा: बस-डंपर की टक्कर से 25 यात्री घायल

हादसा: बस-डंपर की टक्कर से 25 यात्री घायल  

संदीप मिश्र  
औरैया। उत्तर प्रदेश में औरैया जिले के ऐरवाकटरा क्षेत्र में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर रोडवेज बस और डंपर की टक्कर से 25 यात्री घायल हो गए। पुलिस सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि बहराइच से 56 सवारियां लेकर जयपुर जा रही बस सोमवार और मंगलवार की रात लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर नगला दौलत गांव के पास माइल नम्बर 136 पर आगे जा रहे डंपर से टकरा गई। इस हादसे में 25 सवारियां घायल हो गई। जिसमें नेपाल के भी कुछ यात्री शामिल हैं। हादसे भीषण टक्कर की आवाज सुन ग्रामीणों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। 
पुलिस ने तत्काल मौके पर पहुंच कर बचाव कार्य शुरू करते हुए सवारियों को बस से निकाला और यूपीडा की एम्बुलेंस की सहायता से सभी गंभीर घायलों को उपचार के लिये रिम्स सैंफई व अन्य घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ऐरवाकटरा में भिजवाया। चिकित्सकों ने बताया कि घायलों में सात लोगों की हालत चिंताजनक है। उन्होने बताया कि हादसे का कारण संभवत: चालक शमीम अहमद को झपकी आना प्रतीत होता है। हादसे के बाद एक्सप्रेस वे पर लंबा जाम लग गया जिसे कड़ी मशक्कत के बाद सुचारू किया जा सका।

अग्निपथ योजना को लेकर भाजपा पर बोला हमला

अग्निपथ योजना को लेकर भाजपा पर बोला हमला 

संदीप मिश्र  
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार द्वारा लाई गई अग्निपथ योजना को लेकर भाजपा पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि जो भाजपाई अग्निपथ योजना के फायदे गिनवा रहे हैं, वह अपने बच्चों को भेजकर उदाहरण पेश करें। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा जिस तरह अपने समर्थकों से 'अग्निवीर' के तथाकथित फ़ायदे गिनवाने में लगी है। 
उससे अच्छा होगा कि भारतीय जनता पार्टी अपने उन सदस्यों-समर्थकों की सूची जारी करें, जो इस योजना में अपने बच्चों को भेज रहे हैं। प्रवचन देने से अच्छा है, भाजपाई ख़ुद उदाहरण पेश करें। अंत में उन्होंने कहा कि भाजपा युवाओं का अपमान बंद करे।

अब जीवन का रास्ता बन रहा है, योग: पीएम

अब जीवन का रास्ता बन रहा है, योग: पीएम

इकबाल अंसारी
बेंगलुरु। कर्नाटक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर दुनियाभर के लोगों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। मोदी ने ट्वीट की श्रृंखला में कहा,“अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी हमने इस बार ‘गार्डियन रिंग ऑफ योग’ का ऐसा ही अभिनव प्रयोग पूरे विश्व भर में हो रहा है।” उन्होंने कहा,“दुनिया के अलग-अलग देशों में सूर्योदय के साथ, सूर्य की गति के साथ, लोग योग कर रहे हैं।” मोदी ने कहा,“दुनिया के लोगों के लिए योग आज जीवन का हिस्सा नहीं, बल्कि योग अब जीवन का रास्ता बन रहा है।
” प्रधानमंत्री ने कहा,“भारत में हम इस बार योग दिवस हम एक ऐसे समय पर मना रहे हैं जब देश अपनी आजादी के 75वें वर्ष का पर्व मना रहा है, अमृत महोत्सव मना रहा है।” श्री मोदी ने कहा,“योग दिवस की ये व्यापकता, ये स्वीकार्यता भारत की उस अमृत भावना की स्वीकार्यता है जिसने भारत के स्वतन्त्रता संग्राम को ऊर्जा दी थी।” गौरतलब है कि कर्नाटक के दो दिवसीय दौरे पर आये प्रधानमंत्री मैसूर में योग दिवस में भाग ले रहे हैं।

सीएम ने सैकड़ों लोगों के साथ योगासन किया

सीएम ने सैकड़ों लोगों के साथ योगासन किया 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर यहां त्यागराज स्टेडियम में सैकड़ों लोगों के साथ योगासन किया और कहा कि उनकी सरकार का लक्ष्य स्कूली छात्रों को इसकी शिक्षा देना है। केजरीवाल ने इस कार्यक्रम में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और ‘दिल्ली की योगशाला’ के सदस्यों के साथ हिस्सा लिया। कार्यक्रम में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि प्रत्येक दिल्लीवासी दैनिक रूप से योग का अभ्यास करे।
उन्होंने कहा, ‘‘यदि बच्चों में (योग का अभ्यास करने की) आदत डाल दी जाए, तो वे जीवन भर इससे जुड़े रहेंगे। 
हमारा उद्देश्य बच्चों को योग सिखाना और यह देखना है कि इसे स्कूलों में कैसे शुरू किया जा सकता है।’’ उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में सुधार किया है, लेकिन योग को अपने दैनिक जीवन में अपनाने से लोगों को अस्पताल जाने की आवश्यकता नहीं होगी। दिल्ली की योगशाला कार्यक्रम के बारे में केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने योग मुफ्त में सीखा और यह दिल्ली वालों के लिए भी मुफ्त होगा।
उन्होंने कहा, ‘‘हमें योग को उस मंच तक ले जाना है जहां हजारों लोग इसका अभ्यास कर रहे हैं, और इसके बाद लाखों लोग इसका अभ्यास करें। कुछ लोग मुफ्त योग कक्षाओं के लिए मेरी आलोचना करते हैं। मैंने इसे (योग) कक्षा आठ में मुफ्त में सीखा, इसलिए यह लोगों के लिए मुफ्त होगा क्योंकि जीवन में हर आवश्यक चीज, जैसे हवा आदि मुफ्त है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली की योगशाला में नि:शुल्क कक्षाओं के तहत पुरुषों, महिलाओं, अमीरों और गरीबों सहित 17,000 से अधिक दिल्लीवासी रोजाना 546 स्थानों पर योग का अभ्यास करते हैं।
कोविड महामारी की तीसरी लहर के दौरान केजरीवाल के नेतृत्व वाली सरकार ने गृह पृथक-वास में कोविड-19 रोगियों के लिए मुफ्त ऑनलाइन योग कक्षाएं शुरू कीं। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षित प्रशिक्षकों द्वारा आयोजित ऑनलाइन योग सत्र में ऐसे 4,700 से अधिक रोगियों ने भाग लिया। उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट कर लोगों से स्वस्थ जीवन के लिए हर दिन योग और प्राणायाम करने का संकल्प करने की अपील की। दिल्ली सरकार ‘दिल्ली की योगशाला’ कार्यक्रम के तहत योग करने के इच्छुक 20-25 लोगों के समूहों को एक प्रशिक्षक मुहैया कराती है।

चुनाव: नेता सिन्हा ने पार्टी छोड़ने का ऐलान किया

चुनाव: नेता सिन्हा ने पार्टी छोड़ने का ऐलान किया

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस के नेता यशवंत सिन्हा ने मंगलवार को पार्टी छोड़ने का ऐलान करते हुए कहा कि अब वह वृहद विपक्षी एकता के व्यापक राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए काम करेंगे‌। कई दिनों से ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा का नाम आगामी राष्ट्रपति चुनाव में संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार के रूप में पेश करेंगी। यशवंत सिन्हा ने ट्वीट किया, ममता ने जो सम्मान मुझे तृणमूल कांग्रेस में दिया, मैं उसके लिए उनका आभारी हूं। अब समय आ गया है जब वृहद विपक्षी एकता के व्यापक राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए मुझे पार्टी से अलग होना होगा। मुझे यकीन है कि वह (ममता) इसकी अनुमति देंगी।
देश में 18 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव के वास्ते अपने संयुक्त उम्मीदवार पर फैसला करने के लिए विपक्षी दलों की मंगलवार को दिल्ली में बैठक होने वाली है। पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने मंगलवार सुबह एक ट्वीट पोस्ट किया, जिससे उनके 18 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार के रूप में विचार किए जाने की अटकलों को बल मिल सकता है। चर्चा के बीच हिन्दुस्तान टाइम्स द्वारा पूछे जाने पर यशवंत सिन्हा ने कहा कि वह अपने ट्वीट से आगे नहीं जाना चाहते। हालांकि, सूत्रों ने सुझाव दिया है कि उन्हें विपक्ष की पसंद के रूप में घोषित किए जाने की संभावना है। यशवंत सिन्हा, जिन्होंने भारत के वित्त और विदेश मंत्री के रूप में कार्य किया है, तृणमूल कांग्रेस के उपाध्यक्ष रहे हैं। उन्होंने 2018 में बीजेपी छोड़ दी थी।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 9,923 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 9,923 नए मामलें  

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। देशभर में कोरोना संक्रमण अब तेजी से फैल रहा है। कोविड के एक्टिव मरीजों की संख्या 79,313 हो गई है। हालांकि पिछले 24 घंटे में कोविड के केसों में थोड़ी गिरावट दर्ज की गई है। 24 घंटे में कोरोना के 9,923 नए मामलें सामने आए हैं। जबकि देशभर में 7,293 मरीजों ने कोरोना को मात दी।
स्वास्थ्य विभाग से मिले आंकड़ों के मुताबिक अब देशभर में पॉजिटिविटी रेट 2.55 फीसदी हो गई है। जबकि देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना की वजह से 17 लोगों की मौत हुई है। अब देश में कोविड से जान गंवाने वालों का कुल आंकड़ा बढ़कर 5,24,890 हो गया है।

अभियान: सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया

अभियान: सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को मार गिराया

इकबाल अंसारी  
श्रीनगर। कश्मीर घाटी में मंगलवार को दो अलग-अलग आतंकवाद विरोधी अभियानों में सुरक्षा बलों ने 3 आतंकवादियों को मार गिराया है। जिनमें सब इंस्पेक्टर (एसआई) फारूक मीर का हत्यारा भी शामिल है। संबंधित अधिकारियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर में पुलवामा जिले के तुज्जन इलाके में हुई मुठभेड़ में आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकवादी मारे गए हैं। जिनमें माजिद नजीर नाम का आतंकवादी भी शामिल है। जिसे सब इंस्पेक्टर (एसआई) फारूक मीर का हत्यारा माना जा रहा है।
उल्लेखनीय है कि जम्मू-कश्मीर के अवंतीपोरा से 18 जून को पुलिस उप निरीक्षक (एसआई) फारूक मीर का गोलियों से छलनी शव की बरामदगी हुई थी। जम्मू-कश्मीर पुलिस के सब-इंस्पेक्टर मीर का शव धान के खेत में पड़ा मिला। कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने ट्वीट करते हुए कहा,“सब-इंस्पेक्टर फारूक मीर का हत्यारा जैश-ए-मोहम्मद का आतंकवादी माजिद नजीर पुलवामा मुठभेड़ में मारा गया है।
” इसके अलावा, उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के तुलीबल सोपोर बस्ती में एक और आतंकवादी को मार गिराया गया है। अधिकारियों ने कहा कि उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले में सोपोर कस्बे के तुलीबल इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद आतंकवाद विरोधी अभियान शुरू किया गया।
सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई के दौरान मुठभेड़ हुई। एक सुरक्षा अधिकारी ने कहा,“जैसे ही सुरक्षा बलों की संयुक्त टीमों ने संदिग्ध स्थानों की घेराबंदी की, छिपे हुए आतंकवादियों ने गोलियां चला दीं। सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई के कारण एक अज्ञात आतंकवादी मारा गया।” पुलिस ने ट्वीट कर जानकारी दी,“एक आतंकवादी मारा गया है। सुरक्षा बलों का अभियान जारी है। आगे के निर्देशों का पालन किया जाएगा।

उपराज्यपाल ने झील के किनारे योग-आसन किए

उपराज्यपाल ने झील के किनारे योग-आसन किए

इकबाल अंसारी
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने केंद्र शासित प्रदेश में ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ पर आयोजित कार्यक्रम की अगुवाई करते हुए मंगलवार को यहां डल झील के किनारे योग-आसन किए और सभी से इस प्राचीन विधा का अभ्यास करने का आग्रह किया। केंद्रीय पंचायती राज राज्य मंत्री कपिल पाटिल, मुख्य सचिव ए के मेहता और श्रीनगर नगर निगम के महापौर जुनैद मट्टू सहित बड़ी संख्या में लोगों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।
सिन्हा ने ट्वीट किया, ‘‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं। मानीय केंद्रीय राज्य मंत्री कपिल पाटिल और सैकड़ों लोगों के साथ श्रीनगर की डल झील में योग दिवस 2022 में भाग लिया। मैंने सभी से स्वास्थ्य और कल्याण के प्रति समग्र दृष्टिकोण के लिए योग को जीवन के अभिन्न अंग के रूप में अपनाने का आग्रह किया।
उन्होंने कहा, ‘‘मानवता के लिए इस अमूल्य उपहार का उपयोग विभिन्न विकारों के उपचार के मकसद से चिकित्सकीय पद्धति के रूप में और शरीर, मन और बुद्धि के बीच संतुलन बैठाने के लिए किया जा रहा है।’’ सिन्हा ने कहा कि इस साल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का विषय ‘मानवता के लिए योग’ है जो चुनौतीपूर्ण समय में सार्वभौमिक भाईचारे के संदेश को रेखांकित करता है।

योग का उम्र-जाति, स्थिति या धर्म से कोई लेना-देना नहीं

योग का उम्र-जाति, स्थिति या धर्म से कोई लेना-देना नहीं

इकबाल अंसारी  
हैदराबाद। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने मंगलवार को कहा कि योग का उम्र, जाति, भौगोलिक स्थिति या धर्म से कोई लेना-देना नहीं है और हर किसी को इसके समृद्ध लाभों को प्राप्त करने के लिए स्वस्थ रहने की इस प्राचीन विधा को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाना चाहिए। हैदराबाद में संस्कृति और आयुष मंत्रालयों द्वारा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में नायडू ने कहा, ‘‘योग समय की कसौटी पर खरा उतरा है।
योग का उम्र, जाति, भौगोलिक स्थिति या धर्म से कोई लेना-देना नहीं है। इसीलिए यह सार्वभौमिक है।’’ उन्होंने योग को संयुक्त राष्ट्र में ले जाने और इसे दुनियाभर में लोकप्रिय बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की। नायडू ने इस कार्यक्रम के अयोजन के लिए संस्कृति और आयुष मंत्रालयों को भी सराहा। इस कार्यक्रम में केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी, ओलंपिक विजेता बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु, अभिनेता आदिवासी शेष सहित कई गणमान्य हस्तियों ने शिरकत की।
नायडू ने कहा कि योग देश ही नहीं, बल्कि तन-मन की समरसता, एकता और समग्रता के लिए भी जरूरी है। उन्होंने कहा, ‘‘योग व्यक्ति को शारीरिक रूप से स्वस्थ और मानसिक रूप से सतर्क बनाता है। यह हमारे पूर्वजों द्वारा मानवता को दिया गया एक महान उपहार है।’’ उन्होंने कहा कि हालांकि योग एक प्राचीन विधा है, लेकिन यह ‘समय के बंधन से परे है।’ योग के विभिन्न फायदों को रेखांकित करते हुए नायडू ने कहा, ‘‘योगाभ्यास करें, योग का प्रचार करें, योग को स्वीकार करें, योग पर गर्व करें।
यह आप सभी को मेरी सलाह है। यह अंतरराष्ट्रीय दिवस वर्तमान पीढ़ी को योग के महत्व का एहसास कराने के लिए है।’’ अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत साल 2015 में हुई थी। तब से हर वर्ष 21 जून को दुनियाभर में इसे मनाया जाता है। इस साल के योग दिवस का विषय ‘मानवता के लिए योग’ है।

भूकंप: ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ को कोई नुक्सान नहीं

भूकंप: ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ को कोई नुक्सान नहीं

इकबाल अंसारी  
अहमदाबाद। गुजरात में नर्मदा जिले के केवडिया गांव के पास 3.1 तीव्रता का भूकंप आया। बहरहाल, इस दौरान जान-माल का नुकसान होने की कोई सूचना नहीं मिली है। अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। 182 मीटर ऊंचा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ केवड़िया गांव के पास स्थित है। भूकंप के झटके सोमवार रात दर्ज किए गए। स्मारक के जनसंपर्क अधिकारी राहुल पटेल ने बताया कि ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ को कोई नुकसान नहीं हुआ है।
इसे इस तरह से बनाया गया है कि शक्तिशाली भूकंप और चक्रवात से इसे नुकसान नहीं हो। गांधीनगर स्थित भूकंप अनुसंधान संस्थान (आईएसआर) ने एक बयान में बताया कि भूकंप का केंद्र केवडिया से 12 किलोमीटर पूर्व-दक्षिण पूर्व में था। आईएसआर ने कहा, ‘‘सोमवार की रात 10 बजकर सात मिनट पर 3.1 तीव्रता वाला भूकंप दर्ज किया गया, जिसका केंद्र दक्षिण गुजरात में केवड़िया से 12 किलोमीटर पूर्व-दक्षिण पूर्व (ईएसई) में 12.7 किलोमीटर की गहराई में था।’’ जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि भूकंप के कारण जान-माल के किसी प्रकार के नुकसान की कोई सूचना नहीं है।

सीएम ने योग आयोग गठित करने की घोषणा की

सीएम ने योग आयोग गठित करने की घोषणा की 

मनोज सिंह ठाकुर  
भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आठवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर राज्य स्तरीय कार्यक्रम में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में योग आयोग गठित करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि योग को जीवन का अभिन्न अंग बनाने के लिए प्रदेश की शालाओं में योग प्रशिक्षण भी प्रारंभ किया जाएगा। चौहान आठवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर मुख्यमंत्री निवास में राज्य स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मानवता के लिए योग’ की थीम पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम को कर्नाटक के मैसूर पैलेस से संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए योग शिक्षकों की भर्ती भी की जाएगी। लोग घर पर सरल योग का अभ्यास निरंतर कर सकें इसके लिए भी आवश्यक व्यवस्था स्थापित की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय योग संस्थान, पतंजलि योग संस्थान, ईशा योग फाउंडेशन, आर्ट ऑफ लिविंग जैसी संस्थाओं से योग साधकों का सहयोग लिया जाएगा।
चौहान ने सभी प्रदेशवासियों से प्रतिदिन योग करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि योग स्वस्थ रहने का सबसे सशक्त माध्यम है। जिसमें शारीरिक क्षमता नहीं है, वह आत्मा-परमात्मा कुछ प्राप्त नहीं कर सकता। योग से कार्य-क्षमता और कर्मठता की प्रवृत्ति में वृद्धि होती है।  चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी, बाबा रामदेव और सद्गुरू जग्गी वासुदेव इसका प्रत्यक्ष उदाहरण हैं। वे प्रतिदिन योग करते हैं और मानव-कल्याण के लिए निरंतर सक्रिय रहते हैं। उन्हाेंने स्वयं का उदाहरण देते हुए कहा कि वर्ष 1998 में हुई दुर्घटना में उन्हें आठ फ्रेक्चर हो गए थे।
योग और प्राणायाम के अभ्यास से स्वास्थ्य लाभ हुआ और आज भी वे निरंतर 18 घंटे बिना किसी समस्या और थकान के कार्य करने में सक्षम हैं। यह प्रतिदिन योग का ही परिणाम है। उन्होंने कहा कि हमें अपनी शारीरिक परिस्थिति और आवश्यकता के अनुरूप योग आसनों की सूची बनाकर प्रतिदिन 40 से 45 मिनिट योग अवश्य करना चाहिए। निरंतर योग और प्राणायाम के परिणामस्वरूप ही कोरोना उन्हें अधिक प्रभावित नहीं कर पाया। वे प्रतिदिन योग, प्राणायाम, ध्यान, गाय को रोटी देने के साथ तीन पेड़ अवश्य लगाते हैं। यह क्रम उन्हें ऊर्जा, आनंद और सकारात्मकता प्रदान करता है। उन्होंने सभी को पौधरोपण के लिए प्रेरित करते हुए कहा कि वृक्षारोपण से ही हम धरती को जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग के खतरे से बचा पाएंगे।
चौहान ने योग के आठ नियमों का उल्लेख करते हुए विद्यार्थियों से नियमित दिनचर्या, स्वास्थ्यवर्धक आहार और अच्छा आचरण तथा व्यवहार रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि जंक फूड स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। हमें संतुलित आहार, भूख से थोड़ा कम भोजन लेने, ऋतु के अनुसार भोजन ग्रहण करने और शरीर के लिए हितकारी संतुलित तथा सात्विक आहार लेने की आदत को अपनाना होगा। यह सुखी और स्वस्थ जीवन का आधार है।
उन्होंने कहा कि अपने कार्यों के लिए सक्षम बनें और लक्ष्य अर्जित करने में सफल हों, यह क्षमता प्राप्त करने के उद्देश्य से ही हम भोजन ग्रहण करते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि योग शरीर, मन, बुद्धि और आस्था का समुच्चय है। योग आत्मा से परमात्मा को जोड़ता है। प्राणायाम श्वास-प्रश्वास की प्रक्रिया है, जिससे हम सांस पर नियंत्रण कर सांस को शरीर के लिए अधिक उपयोगी बना सकते हैं। कोरोना की दूसरी लहर में शुरू किया गया योग से निरोग कार्यक्रम कोरोना प्रभावितों के उपचार में सहायक सिद्ध हुआ है। श्री चौहान ने कहा कि प्रतिदिन योग करने के लिए अनुशासन और दृढ़-निश्चय आवश्यक है।
प्राय: मन आलसी होता है और हम योग की निरंतरता को बनाए नहीं रख पाते। हमें इस ओर सजग रहकर अपने योग, प्राणायाम के क्रम को जारी रखना होगा। इससे स्वस्थ शरीर, प्रखर बुद्धि, सकारात्मकता और ऊर्जा प्राप्त होगी और हम आत्म-निर्भर मध्य प्रदेश के निर्माण में अपना योगदान दे सकेंगे।
चौहान के नेतृत्व में लघु फिल्म में प्रदर्शित क्रम के अनुसार विद्यार्थियों ने विभिन्न योग क्रियाएँ की, जिसमें चालन क्रिया, स्कंध संचालन, स्कंध चक्र, ताड़ासन, वृक्षासन, पादहस्तासन, अर्द्ध चक्रासन, त्रिकोणासन, भद्रासन, वज्रासन, उष्टासन, शशांकासन, उत्तांनमंडूकासन, वक्रासन, मक्रासन, भुजंगासन, शलवासन, सेतुबंधासन, उत्तानपादआसन, अर्द्ध हलासन, पवन मुक्तासन, शवासन, कपाल भाति, अनुलोम-विलोम, शीतली प्राणायाम, भ्रामरी और ध्यान की क्रियाएँ की गई।
राज्य स्तरीय कार्यक्रम में भोपाल के स्कूल-कॉलेज के छात्र-छात्राओं के साथ भारतीय योग संगठन से जुड़ी संस्थाओं जैसे पतंजलि योग संस्थान, ईशा योग फाउंडेशन, ऑर्ट ऑफ लिविंग, बिहार स्कूल ऑफ योग, ब्रम्हकुमारी आदि के योग साधक भी शामिल हुए।

जो हम कल कर रहें थे, वहीं भविष्य में भी करते रहें

जो हम कल कर रहें थे, वहीं भविष्य में भी करते रहें 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। 'अग्निपथ योजना’ को लेकर देशभर में मचे बवाल के बाद अब राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी सामने आए हैं। एक इंटरव्यू के दौरान अजीत डोभाल ने कहा कि जो हम कल कर रहें थे, अगर वहीं भविष्य में भी करते रहें तो हम सुरक्षित रहेंगे, ये जरूरी नहीं। यदि हमें कल की तैयारी करनी है, तो हमें परिवर्तित होना पड़ेगा। आवश्यक इसलिए था क्योंकि भारत में, भारत के चारों तरफ माहौल बदल रहा है।
डोभाल ने कहा कि सेना में चार साल बिताने के बाद अग्निवीर जब वापस जाएगा तो वह स्किल्‍ड और ट्रेन्‍ड होगा। वह समाज में सामान्‍य नागरिक की तुलना में कहीं ज्‍यादा योगदान कर पाएगा। ट्रेनिंग पर उन्होंने कहा कि अग्निवीर कभी पूरी सेना तो बनेंगे नहीं। जो अग्निवीर रेगुलर आर्मी में जाएंगे, उनकी कड़ी ट्रेनिंग होगी, अनुभव हासिल करने के लिए वक्‍त मिलेगा।
डोभाल ने कहा कि ‘पहला अग्निवीर जब रिटायर होगा तो 25 साल का होगा। उस वक्‍त भारत की इकनॉमी 5 ट्रिलियन डॉलर की होगी। NSA ने कहा कि तेजी से बढ़ती अर्थव्‍यवस्‍था को ऐसे लोग चाहिए होंगे।
प्रदर्शन पर डोभाल ने कहा कि नई भर्ती योजना के खिलाफ देशभर में विरोध हुआ। देश में जब बदलाव आता है तो ऐसा होता ही है, घबराहट होती है।
उन्होंने कहा कि युद्ध अब बड़े बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं। हम संपर्क रहित युद्धों की ओर जा रहे हैं और हमारी लड़ाई अदृश्य शत्रुओं से है। हथियारों की जगह टेक्नोलॉजी का सहारा लिया जा रहा है। आज भारत में बनी AK-203 के साथ नई असॉल्ट राइफल को सेना में शामिल किया जा रहा है। यह दुनिया की सबसे अच्छी असॉल्ट राइफल है। सैन्य उपकरणों में बहुत प्रगति की जा रही है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  

1. अंक-256, (वर्ष-05)
2. बुधवार, जून 22, 2022
3. शक-1944, आषाढ़, कृष्ण-पक्ष, तिथि-नवमी, विक्रमी सवंत-2079।
4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:15।
5. न्‍यूनतम तापमान- 28 डी.सै., अधिकतम-34+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

मुजफ्फरनगर: चेकिंग के दौरान, 3 वाहन चोर अरेस्ट किए

मुजफ्फरनगर: चेकिंग के दौरान, 3 वाहन चोर अरेस्ट किए  भानु प्रताप उपाध्याय मुजफ्फरनगर। जनपद में बृहस्पतिवार को चेकिंग के दौरान पुलिस न...