ओडिशा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ओडिशा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 26 सितंबर 2021

संभावना: तट से टकरा सकता है 'गुलाब' चक्रवात

भुवनेश्वर। ‘गुलाब’ चक्रवात के प्रभाव से ओडिशा के दक्षिण एवं तटीय क्षेत्रों में रविवार सुबह वर्षा शुरू हो गई। इस चक्रवात के ओडिशा के गोपालपुर एवं आंध्रप्रदेश के कलिंगपटनम के बीच करीब आधी रात को तट से टकराने की संभावना है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी।
विभाग ने बताया कि ओडिशा में चार महीने में ‘गुलाब’ चक्रवात आने वाला यह दूसरा चक्रवात है। इसका केंद्र गोपालपुर के दक्षिणपूर्व में करीब 140 किलोमीटर की दूरी तथा कलिंगपटनम के पूर्व-उत्तर पूर्व में करीब 190 किलोमीटर की दूरी पर है। आईएमडी ने ‘लाल संदेश’ (बहुत अधिक वर्षा का संदेश) जारी करते हुए कहा कि आज रात इसके पश्चिम की ओर बढ़ने तथा उत्तरी आंध्रप्रदेश एवं दक्षिण ओडिशा तट को पार करने की संभावना है।

इस दौरान 75-85 किलोमीटर प्रति घंटे से लेकर 95 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार तक तूफान चल सकता है। रविवार देर शाम यह प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। उसने बताया कि फिलहाल उसकी रफ्तार 18 किलोमीटर प्रति घंटा है। ओडिशा सरकार ने पहले ही बचाव एवं राहत कर्मियों एवं मशीनरी को तैयार कर लिया है एवं राज्य के दक्षिण हिस्से के सात चिह्नित जिलों में लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना शुरू कर दिया है।

विशेष राहत आयुक्त पी के जेना ने बताया कि ‘गुलाब’ चक्रवात को देखते हुए ओडिशा आपदा त्वरित कार्यबल की 42 टीमों, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के 24 दस्तों तथा अग्निशमन कर्मियों की 102 टीमों को गजपति, गंजाम, रायगढ़, कोरापुट, मलकानगिरि, नबरंगपुर और कंधमाल जिलों में भेजा गया है। जेना ने कहा कि गंजाम पर चक्रवात की सबसे अधिक मार पड़ने की आशंका है, इसलिए अकेले उस क्षेत्र में 15 बचाव दल भेजे गये हैं।

उन्होंने बताया कि इसके अलावा अग्निशमन सेवा की 11 इकाइयों, ओड़िशा आपदा त्वरित कार्यबल के छह दलों तथा राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के आठ दलों को आपात स्थिति के लिए तैयार स्थिति में रखा गया है। अगले तीन दिन तक ओडिशा, पश्चिम बंगाल एवं आंध्रप्रदेश से सटे समुद्र में बहुत खराब स्थिति रहेगी। ऐसे में मछुआरों को बंगाल की खाड़ी एवं अंडमान सागर में नहीं जाने को कहा गया है।

सोमवार, 23 अगस्त 2021

चार महीने तक बंद रहने के बाद खुल रहा है जगन्नाथ

पुरी। स्थित प्रसिद्ध श्री जगन्नाथ मंदिर करीब चार महीने तक बंद रहने के बाद सोमवार को खुल रहा है। इससे एक दिन पहले, रविवार को पुलिस ने श्रद्धालुओं से अपील की थी कि वे मंदिर जाने के अपने अनुभव को पुलिस के साथ साझा करें। पुलिस सूत्रों ने बताया कि श्रद्धालु मंदिर में पुलिस सेवा को अपने अनुभवों के बारे में बता सकते हैं। इसके लिए उन्हें एक फॉर्म भरना होगा।
वे ऑनलाइन ‘क्यूआर कोड’ के जरिए भी रिस्पॉन्स दे सकते हैं। पुरी पुलिस ने ट्वीट किया, ‘हमारी अपील है कि अपने अनुभव हमारे साथ साझा कीजिए ताकि श्रद्धालुओं के लिए मंदिर में दर्शन के अनुभव को और बेहतर एवं सुगम बनाया जा सके.’ कोविड-19 वैश्विक महामारी की दूसरी लहर के कारण 12वीं सदी के इस मंदिर को जनता के लिए 24 अप्रैल को बंद कर दिया गया था।
वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट या कोविड रिपोर्ट जरूरी
श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश करने से पहले फुल वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट या कोविड टेस्ट रिपोर्ट दिखानी होगी। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मंदिर को फिर से खोलने से पहले बल और अधिकारियों की डिटेल्ड ब्रीफिंग की गई है। कोरोना दिशानिर्देशों के मुताबिक, सोमवार से शुक्रवार सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक सभी भक्तों को मंदिर में प्रवेश की अनुमति होगी। जबकि सफाई के लिए शनिवार और रविवार को मंदिर बंद रखा जाएगा।

शनिवार, 7 अगस्त 2021

ऊर्जा विभाग की 9 ऑनलाइन सेवाओं की शुरुआत

भुवनेश्वर। ओडिशा में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने शुक्रवार को ऊर्जा विभाग की नौ ऑनलाइन सेवाओं की शुरुआत की।। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ये सेवाएं राज्य की इलेक्ट्रीसिटी के अलावा इंडस्ट्रीयल, कॉमर्शियल प्रतिष्ठानों के लिए फायदेमंद होंगी।उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य डिजिटल परिवर्तन के माध्यम से लोगों को सशक्त बनाना है। लोगों को परेशानी मुक्त सेवाएं देना हमेशा मेरी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। नए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के साथ, बिजली कर्मचारी और ठेकेदार जैसे विद्युत कार्यबल अब अनुदान और अपने लाइसेंस की नई शुरूआत के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। विद्युत लाइसेंसिंग, सुरक्षा निरीक्षण और परीक्षण जैसी ऑनलाइन सेवाओं को शामिल करने से उद्योगों को बहुत सुविधा होगी।पारदर्शिता और प्रामाणिकता सुनिश्चित करने के लिए आवेदकों द्वारा डिजिटल रूप से हस्ताक्षरित ई-प्रमाण पत्र डाउनलोड किए जा सकते हैं।
 उंगलियों पर सेवाओं का समय पर वितरण इन ऑनलाइन सेवाओं का सार होगा, उन्होंने कहा, जो सेवाएं अब ऑनलाइन उपलब्ध हैं। उनमें विद्युत कार्यों की स्वीकृति, विद्युत कार्यों का सामान्य निरीक्षण, आपातकालीन निरीक्षण, और रिपोर्ट जारी करना, विद्युत उपकरणों का परीक्षण, वर्कमैन परमिट, पर्यवेक्षक लाइसेंस, विशिष्ट परियोजनाओं के लिए अस्थायी परियोजना लाइसेंस और चार्टर्ड शामिल हैं।
वहीं ओडिशा के केंद्रपाड़ा जिले के तलचुआ और भद्रक जिले में कनाली को जोड़ने वाली 110 करोड़ रुपये की पोतघाट परियोजना , धामरा नदी पर बनेगी। इसके बनने से सड़क मार्ग से जो दूरी तय करने में यात्रियों को अभी छह घंटे लगते हैं उस में जलमार्ग से महज एक घंटा लगेगा। बंदरगाह, नौवहन और जलमार्ग मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी थी।
मंत्रालय ने कहा कि आरओपीएएक्स (रोल-ऑन / रोल-ऑफ पैसेंजर) जेटी परियोजना से धामरा नदी के आसपास स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे और तलचुआ से धामरा तक की सड़क मार्ग की 200 किमी की दूरी को कम कर देगा।
भारत के भले ही किसी कोने में आप रह रहे हों, जनता से रिश्ता वेबसाइट पर आपके राज्य की हर छोटी-बड़ी खबर मिलेगी। राजनीति, खेल, चुनाव, बिजनेस, सिनेमा, इस प्लैटफॉर्म पर बस एक क्लिक करते ही हमेशा पाएं ताजा खबरें। उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, छत्तीसगढ़, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल समेत देश के बाकी राज्यों और शहरों की कोई जानकारी हो, हम आपको देते हैं। सियासी रण हो या बजट का मौसम, कहां चल रहा क्या सियासी दांव-पेच, आपके गांव में किसकी सरकार, हर अपडेट यहां आपको मिलेंगे। तो फिर अपने राज्य की हर हलचल के लिए जुड़े रहिए जनता से रिश्ता के साथ।
गोवा सरकार ने राज्य में आने वाले लोगों के लिए निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट या पूर्ण टीकाकरण सर्टिफिकेट (टीके की दोनों खुराक लेने का) अनिवार्य कर दिया।
पणजी: गोवा सरकार ने राज्य में आने वाले लोगों के लिए निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट या पूर्ण टीकाकरण सर्टिफिकेट (टीके की दोनों खुराक लेने का) अनिवार्य कर दिया। यह निर्णय आने वाले त्योहारों को देखते हुए लिया गया है। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि राज्य में कोविड-19 पॉजिटिविटी रेट 2 फीसदी से कम है। 
सीएम प्रमोद सावंत ने पणजी में कहा कि "राज्य में नए कोविड -19 मामलों की पॉजिटिविटी रेट 1.8 से 2% है। निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट या पूर्ण टीकाकरण सर्टिफिकेट गोवा विजिट के लिए अनिवार्य है। आगामी त्योहारों को ध्यान में रखते हुए हम नई एसओपी जारी करेंगे।
गोवा में कोरोना से हो चुकी हैं 3 हजार से ज्यादा मौतें
गोवा ने शुक्रवार को कोरोना के 97 नए मामले दर्ज किए, जिससे मामलों की संख्या बढ़कर 1 लाख 71 हजार 705 हो गई. कम से कम 133 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी दी गई, जिससे ठीक होने की संख्या 1 लाख 67 हजार 556 हो गई। राज्य में कोरोना से एक मौत भी हुई जिसके बाद मौतों की कुल संख्या 3157 हो गई। गोवा में अभी 992 एक्टिव केस हैं। कोविड मैनेजमेंट पर राज्य सरकार की एक्सपर्ट कमेटी के सदस्य डॉ शेखर साल्कर ने कहा है कि केवल टीकाकरण ही महामारी से होने वाली मौतों को रोक सकता है।
दूसरी लहर में राज्य में 2 हजार लोगों की गई जान
सीएम सावंत ने कहा कि राज्य में संक्रमण से मरने वाले 3 हजार लोगों में से 2 हजार की मौत दूसरी लहर में हुई। केवल 11 लोगों की मौत टीकाकरण के बाद हुई है, जिन्हें दूसरी गंभीर बीमारी भी थी। टीकाकरण से 95.5 फीसदी मौतों को रोका जा सकता है। सावंत ने कहा कि "आगे तीसरी लहर आती है तो हम उससे लड़ सकते हैं और मौतों को रोक सकते हैं। मौतें रोकना महत्वपूर्ण हैं। हमें इस बात पर ध्यान देना होगा कि हम लोगों को कैसे बचा सकते हैं, इसके लिए डॉक्टर से जल्दी परामर्श लेना और भर्ती होना होगा।

शुक्रवार, 30 जुलाई 2021

समुद्र तट पर झोपड़ियां बनाने को रोकने की मांग की

भुवनेश्वर। पुरी और कोणार्क के तटों पर छोटे-छोटे कमरे (कुटिया) बनाने की ओडिशा सरकार की योजना का विरोध कर रहे करीब 50 अलग-अलग संगठनों के साथ खड़े हो गए हैं। इन स्थानों पर पर्यटकों को शराब उपलब्ध कराए जाने की योजना है।
ओडिशा आबकारी नीति, 2021 के तहत प्रस्तावित समुद्र तट पर बनाई जानी वाली कुटियाओं में शराब परोसी जाएगी। पुरी के स्थानीय निवासियों सहित बड़ी संख्या में लोगों ने सरकार की योजना पर चिंता व्यक्त की है और समुद्र तट पर झोपड़ियां बनाने संबंधी निविदा को तत्काल रोकने की मांग की है।
शंकराचार्य ने राज्य सरकार के ऐसे कदम पर निराशा जाहिर करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि श्री जगन्नाथ धाम पुरी आध्यात्मिक एवं धार्मिक चिंतन-मनन की जगह है। किसी भी परिस्थिति में, शराब और अन्य किसी भी तरह के मादक पदार्थों को पुरी के तट पर अनुमति नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मैंने हमेशा मांग की है कि पुरी समुद्र तट पर तीन किलोमीटर तक की जगह भजन, कीर्तन और आरती की जगह होनी चाहिए। पुरी तट में सरकार का यह प्रस्ताव स्वीकार्य नहीं है। इस बीच, सामाजिक संगठनों के एक प्रतिनिधिमंडल ने पुरी के जिलाधिकारी समर्थ वर्मा के साथ मुलाकात की और पुरी जिले में पर्यटन विकास के नाम पर तटों पर ‘कुटिया’ योजना को वापस लेने की मांग की।
कई महिला कार्यकर्ताओं ने भी राज्य की योजना पर चिंता जताई है और दावा किया है कि इससे ओडिशा में महिलाओं के खिलाफ अपराध को बढ़ावा मिलेगा। वर्मा ने संवाददाताओं को कहा, “हम इस संबंध में कोई भी फैसला लेने से पहले विभिन्न पहलुओं पर विचार करेंगे। यह अभी प्रस्ताव के चरण में ही है। इससे पहले, समुद्र तट पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए, ओडिशा पर्यटन विकास निगम (ओटीडीसी) के माध्यम से राज्य सरकार ने शुरू में पुरी से कोणार्क तक समुद्र तट के किनारे कुटिया स्थापित करने के लिए बोलियां आमंत्रित की थी।

बुधवार, 28 जुलाई 2021

उड़ीसा में करोड़ों की ठगी, आरोपी गिरफ्तार किया

भुवनेश्वर। उड़ीसा में करोड़ों की ठगी करने वाले को बरेली में गिरफ्तार कर लिया गया है। उड़ीसा एसटीएफ की टीम ने बरेली पुलिस की मदद से आरोपी को होटल रेडिसन से पकड़ा।सूत्रों के मुताबिक आरोपी पुलिस से बचने के लिए दिल्ली से भागकर बरेली आया था। ठगी करने वाले का नाम दिलीप जैन बताया जा रहा है जोकि उड़ीसा निवासी है। दिलीप जैन ने 2016 में चिटफंड कंपनी बनाकर करोड़ों की ठगी के कारनामे को अंजाम दिया था।

मंगलवार, 27 जुलाई 2021

24 घंटे में कोरोना के 1,629 नए मामलें सामने आएं

भुवनेश्वर। राज्य में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1 हजार 629 नये मामले सामने आये हैं। राज्य के सूचना व जनसंपर्क विभाग ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। इसके साथ राज्य में कुल मामलों की संख्या बढ़कर 9 लाख 70 हजार 814 हो गई है। अभीतक राज्य में  9 लाख 47 हजार 381 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। जबकि राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या-17 हजार 746 है।विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार नये मामलों में से 939 संगरोध से हैं। जबकि 690 स्थानीय संपर्क में आकर संक्रमित हुए हैं। आज संक्रमित पाये गये लोग कुल 30 जिलों से हैं। इनमें खोर्धा जिले में सर्वाधिक  532 कोरोना संक्रमित पाये गये हैं।

शुक्रवार, 23 जुलाई 2021

आकाश के नए संस्करण का सफल परीक्षण किया

भुवनेश्नर। भारत ने ओडिशा परीक्षण रेंज से जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली आकाश के नए संस्करण का शुक्रवार को सफल परीक्षण किया है। पिछले दो दिनों में यह दूसरी बार है जब 30 किमी की मारक क्षमता वाले एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम का रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा परीक्षण किया गया है। आकाश मिसाइल को डीआरडीओ के हैदराबाद स्थित प्रयोगशाला ने अनुसंधान संगठन की अन्य शाखाओं के साथ मिलकर विकसित किया है।
डीआरडीओ ने अपने आधिकारिक बयान में कहा, 'ओडिशा के तट से दूर एकीकृत परीक्षण रेंज, चांदीपुर से आज करीब 11 बजकर 45 मिनट पर नई संस्करण के आकाश (आकाश-एनजी) मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया।

गुरुवार, 22 जुलाई 2021

स्नेह: पालतू बिल्ली ने कोबरा को घर में घुसने से रोका

ओडिशा। राजधानी भुवनेश्वर से एक दिल को छू लेने वाली खबर सामने आई है। यहां एक शहर में एक पालतू बिल्ली ने कोबरा को अपने घर में घुसने से रोककर अपने मालिक के परिवार को खतरे से बचाया। घटना शहर के भीमतंगी इलाके की है। जहां संपद कुमार परिदा और उनका परिवार और उनकी पालतू बिल्ली चीनू रहते हैं।
मंगलवार की दोपहर जब परिदा के घर के पास कोबरा दिखा तो उनकी बिल्ली चीनू तुरंत एक्शन में आ गई। परिदा ने चीनू को घर के पीछे की ओर भागते देखा। उसने बिल्ली का पीछा किया और देखा कि बिल्ली चार फुट लंबे कोबरा के सामने डटकर खड़ी है और उसे घर में आने से रोक रही है। 
उन्होंने बताया कि दोनों में इस दौरान लड़ाई होने लगी।
30 मिनट कर कोबरा से लड़ती रही बिल्ली
इसके बाद संपदा ने तुरंत मदद के लिए स्नेक हेल्पलाइन पर कॉल किया।  हेल्पलाइन के स्वयंसेवक अरुण कुमार बराल मौके पर पहुंचे और देखा कि बिल्ली घर की रखवाली कर रही है। और करीब 30 मिनट तक कोबरा को अंदर जाने से रोकने की कोशिश कर रही है। इसके बाद अरुण ने बिल्ली को वहां से भगाया और तुरंत कोबरा को रेस्क्यू कर लिया।अरुण ने बताया कि जब तक वह बचाव के लिए नहीं आए, तब तक पालतू बिल्ली सांप को रोकने के लिए पहरा देती रही।  लड़ाई आधे घंटे तक चली लेकिन सौभाग्य से, उनमें से कोई भी घायल नहीं हुआ।  स्नेक हेल्पलाइन के महासचिव शुभेंदु मलिक ने कहा कि कोबरा को शहर के बाहर जंगल में छोड़ दिया गया है। उन्होंने कहा कि उन्होंने बिल्ली के शरीर की अच्छी तरह से जांच की और कोई नुकीला निशान नहीं मिला।  उन्होंने कहा कि ऐसा अक्सर देखा गया है कि पालतू जानवर अपने मालिकों के सबसे अच्छे रक्षक साबित हो रहे हैं। 
2019 में खुर्दा जिले के जांला गांव में एक पालतू कुत्ते ने अपने मालिक के परिवार को जहरीले सांप से बचाने के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया था। उसी साल राजधानी शहर के बडगड़ा क्षेत्र में एक और पालतू कुत्ते ने अपने मालिक के परिवार को बचाने के लिए एक कोबरा से लड़ाई की थी। मलिक ने कहा कि बिल्ली और कुत्ते बहुत वफादार पालतू जानवर हैं, जो अपने मालिक के परिवार की रक्षा के लिए अपनी जान जोखिम में डालने से नहीं हिचकिचाते।

रविवार, 18 जुलाई 2021

12वीं कक्षा के छात्रों के लिए 26 से शुरू होंगी कक्षाएं

भुवनेश्वर। सरकारी और निजी स्कूलों में 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षाएं 26 जुलाई से शुरू होंगी।
स्कूल एवं जन शिक्षा सचिव सत्यब्रत साहू ने शनिवार को यह घोषणा की और कहा कि स्कूल बिना लंच ब्रेक के सुबह 10 बजे से दोपहर 1.30 बजे तक खुले रहेंगे। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि जिला कलेक्टर अपने इलाके में कोविड की स्थिति को देखते हुए स्कूल खोलने पर निर्णय लेंगे। 
वहीं कक्षाओं में शामिल होना छात्रों के विवेक पर छोड़ दिया गया है।साहू ने कहा कि कक्षाओं को फिर से खोलने से पहले स्कूलों को साफ कर दिये जायेगा तथा शिक्षकों को टीका लगाया जायेगा। मास्क पहनना अनिवार्य रहेगा और सभी छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग करने के निर्देश जारी किये गये हैं। राज्य सरकार अगले 16 अगस्त से नौवीं और 15 सितम्बर से 11वीं कक्षा के छात्रों के लिए ऑफ़लाइन कक्षाएं शुरू करने पर भी विचार कर रही है। जबकि अन्य कक्षाओं के छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाएं पहले की तरह जारी रहेगी।
एक अन्य फैसले में सरकार ने राज्य में वार्षिक हाई स्कूल प्रमाण पत्र परीक्षा की ऑफलाइन परीक्षा 30 जुलाई से पांच अगस्त तक आयोजित करने का निर्णय लिया है। इसके लिए जिला एवं प्रखंड मुख्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया जायेगा। परीक्षा केंद्रों में प्रवेश करने से पहले छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। किसी भी छात्र को बिना मास्क पहने परीक्षा केंद्र में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। 
परीक्षा कोविड प्रोटोकॉल के कड़ाई से लागू होने के साथ आयोजित की जाएगी और परीक्षा से पहले परीक्षा के प्रभारी सभी शिक्षकों के कोविड परीक्षण किये जायेंगे।
ओडिशा सरकार ने कोविड महामारी के कारण माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की वार्षिक हाई स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा इस साल रद्द कर दी है। बोर्ड द्वारा वैकल्पिक मूल्यांकन प्रणाली के तहत गत जून को परिणाम घोषित किया गया था। परीक्षा में सम्मिलत कुल 6.30 लाख छात्रों में से रिकॉर्ड 6.10 लाख छात्रों ने परीक्षा पास की है।

रविवार, 4 जुलाई 2021

ग्रैंड रोड समेत सभी सड़कों को सील किया जाएंगा

पुरी। विश्व प्रसिद्ध तीर्थनगरी पुरी में रथयात्रा के मौके पर श्रद्धालुओं की भीड़ को रोकने के लिए 11 जुलाई से दो दिन के लिए निषेधाज्ञा (धारा-144) लागू रहेगी और भगवान जगन्नाथ मंदिर को जोड़ने वाली ग्रैंड रोड समेत सभी सड़कों को सील कर दिया जाएगा। मंदिर प्रशासन की शनिवार को यहां आयोजित बैठक में निर्णय लिया गया कि इस बार केवल सेवक ही तीनों रथों को खीचेंगे तथा कोई भी अधिकारी रथ खींचने में भाग नहीं लेंगे। बैठक में रथ यात्रा के आयोजन के संबंध में अन्य निर्णय भी लिए गए। जगन्नाथ मंदिर के मुख्य प्रशासक डॉ. कृष्ण कुमार ने कहा कि केवल आरटी पीसीआर परीक्षण में नेगेटिव रिपोर्ट वाले सेवकों को ही रथयात्रा में शामिल होने की अनुमति दी जाएगी। 

इसके साथ ही मंदिर के अधिकारियों और पुलिस कर्मियों के अलावा लगभग 2200 सेवकों को कार उत्सव से पहले कोविड परीक्षण से गुजरना होगा।मंदिर प्रशासन की ओर से करीब 6,000 लीटर सैनिटाइजर खरीदे जा चुके हैं। सेवादारों को रथ खींचने से पहले सैनिटाइज़र और एक-एक तौलिया दिया जाएगा। डॉ. कुमार ने कहा कि रथों पर अपनी मौजूदगी को कम से कम करने के लिए सेवकों ने सहमत जताई है तथा उनकी ओर से कोई बाधा उत्पन्न नहीं जाएगी।

बुधवार, 30 जून 2021

मोहंती को अरब अमीरात का ‘गोल्डन वीजा’ मिला

भुवनेश्वर। ओडिशा के मयूरभंज जिले की मोना बिस्वरूप मोहंती को संयुक्त अरब अमीरात का ‘गोल्डन वीजा’ मिला है। जिससे वह 10 साल तक खाड़ी देश में रह सकती हैं। यह दीर्घकालीन सांस्कृतिक वीजा कला, रचनात्मक उद्योग, साहित्य और संस्कृति, ऐतिहासिक विरासत और संज्ञानात्मक अध्ययन के क्षेत्र में प्रतिभाओं को दिया जाता है। इससे विदेशियों को पश्चिमी एशियाई देश में रहने, काम करने और पढ़ने का अधिकार मिल जाता है और संयुक्त अरब अमीरात में अपने कारोबार का 100 प्रतिशत मालिकाना हक मिल जाता है।संयुक्त अरब अमीरात ने 2019 में नयी व्यवस्था लागू की थी जिसमें ये वीजा पांच या 10 साल के लिए जारी किए जाते हैं और अपने आप ही इनका नवीनीकरण हो जाता है। 
मोहंती पहली ओडिया कलाकार हैं जिन्हें संयुक्त अरब अमीरात का गोल्डन वीजा मिला है। मोहंती 2007 से दुबई में रह रही हैं और उन्होंने करीब आठ वर्षों तक अकादमिक क्षेत्र और डिजाइन उद्योग में काम किया।वह दुबई के आर्थिक विभाग में पंजीकृत कलाकार हैं। उन्होंने स्कूल ऑफ आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स, बारीपदा से ललित कला में डिप्लोमा किया है। उन्होंने कहा, ”दीर्घकालीन निवास से मुझे और अधिक सार्थक सांस्कृतिक काम करने और अन्य कलाकारों के साथ मिलकर परियोजनाओं पर काम करने का अवसर मिलेगा। मैं इसे अपने देश तथा संस्कृति का प्रतिनिधित्व करने के अवसर के रूप में देखती हूं।

सोमवार, 28 जून 2021

सक्षम 'अग्नि प्राइम’ मिसाइल का सफल परीक्षण किया

भुवनेश्वर। भारत ने अपनी आधुनिक परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम ‘अग्नि प्राइम’ मिसाइल का ओडिशा के तट पर स्थित सैन्य अड्डे से सोमवार को सफल प्रायोगिक परीक्षण किया। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई। इसने बताया कि सतह से सतह पर मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल की मारक क्षमता 1000 से 2000 किलोमीटर की है। डीआरडीओ के एक सूत्र ने बताया कि चिकनी सतह वाली यह मिसाइल अग्नि श्रृंखला का उन्नत स्वरूप है। जिसका ओडिशा के अब्दुल कलाम द्वीप से सुबह 10 बजकर 55 मिनट पर चल प्रक्षेपक से प्रायोगिक परीक्षण किया गया।

तटीय हिस्से पर लगे परिष्कृत ‘ट्रैकिंग रडार’ और टेलीमेटरी के जरिए इसके प्रक्षेप पथ की निगरानी की गई। बयान में बताया गया कि परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम मिसाइल को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है। यह उच्च स्तर की सटीकता के साथ मिशन के सभी उद्देश्यों को पूरा करती है।


गुरुवार, 17 जून 2021

लॉकडाउन को 1 जुलाई तक बढ़ाने का फैसला किया

भुवनेश्वर। ओडिशा सरकार ने बुधवार को कोविड-19 की वजह से लागू आंशिक लॉकडाउन की अवधि एक जुलाई तक बढ़ाने का फैसला किया। वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इसके साथ ही राज्य को संक्रमण के मामलों की संख्या के आधार पर दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है। मुख्य सचिव एससी महापात्रा ने बताया कि पूर्व में लागू पांबदियां अब एक जुलाई सुबह पांच बजे तक जारी रहेंगी। उन्होंने बताया कि शनिवार और रविवार को सप्ताहांत लॉकडाउन भी इस महीने के अंत तक पूरे राज्य में लागू रहेगा। अधिकारी ने बताया कि राज्य के दक्षिण और पश्चिमी हिस्सों के 17 जिलों को ‘ए’ श्रेणी में रखा गया है और इन जिलों में संक्रमण दर पांच प्रतिशत या इससे कम है जबकि तटीय क्षेत्र के अन्य 13 जिलों को ‘बी’श्रेणी में रखा गया है।

उन्होंने बताया कि ‘ए’ श्रेणी में सुंदरगढ़, झारसुगुडा, बारगढ़, संबलपुर, कालाहांडी, बोलंगीर, गंजम, कंधमाल और कोरापुट आदि जिलों को रखा गया है और यहां पर आवश्यक वस्तुओं की दुकानों को सुबह छह बजे से शाम के पांच बजे तक खोलने की अनुमति होगी। उन्होंने कहा कि ‘बी’ श्रेणी के जिलों में ऐसी दुकानें सुबह छह बजे से दोपहर एक बजे तक ही खोली जा सकेंगी। इस श्रेणी में खुर्दा, पुरी,कटक, केंद्रपाड़ा, धेंकनाल, बालासोर और मयूरभंज आदि जिलों को रखा गया है।महापात्रा ने कहा कि राज्य सरकार ने मिठाई की दुकानों को इस शर्त पर खोलने की अनुमति दी है कि वे सामान का पार्सल देंगे। वहीं ‘ए’ श्रेणी के जिलों में रेहड़ी-पटरी की दुकानों को भी ‘सामान खरीदों और जाओ’ के नियम के आधार पर खोलने की अनुमति दी गई है।

मुख्य सचिव ने कहा कि सुबह छह बजे से नौ बजे तक लोगों को टहलने की अनुमति होगी। लेकिन पार्क एक जुलाई तक बंद रहेंगे। उन्होंने बताया कि आवश्यक सेवाओं, औद्योगिक और निर्माण गतिविधियों, मालवाहक वाहनों को परिचालन की अनुमति होगी लेकिन सार्वजनिक बस सेवा उपलब्ध नहीं होगी। वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जिला प्रशासन को कोविड-19 के मामले बढ़ने पर और पाबंदी लगाने का अधिकार होगा। महापात्रा ने बताया कि छत्तीसगढ़ और झारखंड से लगती राज्य की सीमा खोल दी गई है। यह फैसला पड़ोसी राज्यों में कोविड-19 के कम होते मामलों के मद्देनजर लिया गया है। लेकिन पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश की सीमा पर पाबंदी पूर्व की तरह लागू रहेगी।

शुक्रवार, 28 मई 2021

चक्रवात ‘यास’ से हुए नुकसान की समीक्षा की: पीएम

भुवनेश्वर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को भुवनेश्वर पहुंचे और यहां एक बैठक में चक्रवात ‘यास’ से राज्य के विभिन्न इलाकों में हुए नुकसान की समीक्षा की। राज्यपाल गणेशी लाल, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, केंद्रीय मंत्रियों धर्मेंद्र प्रधान और प्रताप सारंगी ने बीजू पटनायक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया। ज्ञात हो कि चक्रवात यास से जुड़ी घटनाओं में अब तक चार लोगों की मौत हो गयी जबकि इसके कारण ओडिशा, पश्चिम बंगाल और झारखंड में 21 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। चक्रवात के कारण ओडिशा में तीन लोगों और पश्चिम बंगाल में एक व्यक्ति की मौत हो गयी।

पश्चिम बंगाल सरकार ने दावा किया है कि इस प्राकृतिक आपदा के कारण कम से कम एक करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं। ‘ताउते’ के बाद एक सप्ताह के भीतर देश के तटों से टकराने वाला ‘यास’ दूसरा चक्रवाती तूफान है। प्रधानमंत्री ओडिशा के प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण भी करेंगे। इसके बाद वह पश्चिम बंगाल के चक्रवात प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे और वहां भी एक समीक्षा बैठक करेंगे। वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को उत्तर 24 परगना जिले में चक्रवात प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। अधिकारियों ने बताया कि मुख्य सचिव अलापन बंदोपाध्याय के साथ मुख्यमंत्री ने हिंगलगंज, हसनाबाद, संदेशखली, पिनाखा और जिले के अन्य इलाकों में चक्रवात के बाद की स्थिति का जायजा लिया। ममता बनर्जी ने कहा कि मैंने देखा है कि अधिकतर क्षेत्र जलमग्न हैं। मकान और खेतों के बड़े भू-भाग जलमग्न हैं। इस संबंध में फील्ड सर्वेक्षण भी किया जायेगा। उन्होंने जिलाधिकारियों, पुलिस अधीक्षकों और खंड विकास पदाधिकारियों के साथ प्रशासनिक बैठक भी की। पूर्वी मेदिनीपुर, दक्षिण एवं उत्तर 24 परगना जिलों में कई इलाके चक्रवात ‘यास’ से प्रभावित हैं। चक्रवात ‘यास’ बुधवार सुबह पड़ोसी ओडिशा के तट से टकराया था। इसके चलते इन जिलों में कई जगहों पर भारी बारिश हुई और तेज चक्रवाती तूफान आये। बनर्जी बाद में दक्षिण 24 परगना जिले के चक्रवात प्रभावित इलाकों और पूर्वी मेदिनीपुर में नतटीय शहर दीघा का भी दौरा करेंगी।

बुधवार, 26 मई 2021

'यास' ओडिशा के निकट पहुंचा, हलचल हुईं तेज

बालासोर। ओडशा के भद्रक जिले में धामरा बंदरगार के निकट गंभीर चक्रवाती तूफान ‘यास’ के पहुंचने की प्रक्रिया बुधवार सुबह नौ बजे शुरू हो गई। एक अधिकारी ने बताया कि चक्रवात बालासोर से करीब 50 किलोमीटर दूर तट पर बहनागा ब्लॉक के निकट धामरा के उत्तर और बहनागा के दक्षिण में पहुंचा। ‘डॉपलर’ रडार डेटा के अनुसार, इस दौरान 130-140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली। ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त पी के जेना ने बताया कि चक्रवात के पहुंचने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और इस प्रक्रिया को पूरा होने में तीन से चार घंटे का समय लगेगा। बालासोर और भद्रक जिले इससे सबसे अधिक प्रभावित होंगे। उन्होंने बताया कि करीब 5.80 लाख लोगों को सुरक्षित स्थलों पर पहुंचाया गया है।

मौसम विभाग ने पहले कहा था कि चक्रवात के दौरान हवा की गति 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटा रहने और इसके बढ़कर 185 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंचने की संभावना है। जेना ने कहा कि चक्रवात अनुमानित समय से कुछ घंटों की देरी से पहुंचा क्योंकि इसकी रफ्तार 15-16 किलोमीटर प्रति घंटे से कम होकर 12 किलोमीटर प्रति घंटा हो गई। उन्होंने बताया कि देर रात दो बजे के बाद चक्रवात की तीव्रता और नहीं बढ़ी। जेना ने कहा कि तीव्रता में कमी आने के कारण चक्रवात के पहुंचने के दौरान 165 किलोमीटर प्रति घंटे के बजाय 130 से 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। उन्होंने बताया कि इस दौरान कुछ जगह पेड़ उखड़ गए, लेकिन कोई बड़ी घटना नहीं हुई। कोलकाता में अधिकारियों ने बताया कि पश्चिम बंगाल में पूर्वी मिदनापुर और दक्षिण 24 परगना के तटीय इलाकों में चक्रवात के कारण पानी भर गया और नदियों में जलस्तर बढ़ गया।

पूर्वी मिदनापुर के दीघा में 90 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवाएं चलीं, जबकि दक्षिण 24 परगना के फ्रेसरगंज में 68 किलोमीटर और कोलकाता में 62 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। दक्षिण बंगाल में भी मंगलवार रात के बाद से काफी बारिश हुई है। मौसम विभाग ने चक्रवात के दस्तक देने के दौरान पूर्वी मिदनापुर के निचले तटीय इलाकों में समुद्र में दो से चार मीटर और दक्षिण 24 परगना में दो मीटर ऊंची लहरें उठने का अनुमान जताया था। भुवनेश्वर में क्षेत्रीय मौसम विज्ञान विभाग के वैज्ञानिक उमाशंकर दास ने बताया कि ओडिशा के अधिकतर हिस्सों में बारिश हुई। राज्य में पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक बारिश भद्रक जिले के चांदबाली (273 मिमी) में हुई। इससे बाद पारादीप (197 मिमी), बालासोर (51 मिमी) और भुवनेश्वर (49 मिमी) में बारिश हुई।

रविवार, 2 मई 2021

सरकार ने 14 दिनों के पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की

भुवनेश्वर। ओडिशा सरकार ने कोविड-19 संक्रमण की भयावहता को देखते हुए रविवार को राज्य में 14 दिनों के पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की। जो पांच मई से प्रभावी होगा। सूत्रों के अनुसार कोरोना की घातक दूसरी लहर फैलने पर इस पर नियंत्रण पाने के लिए राज्य सरकार ने यह फैसला किया। राज्य में पांच मई से 19 मई तक लॉकडाउन रहेगा। इस दौरान जरूरी सेवाओं को छोड़कर अन्य सेवाएं बंद रहेंगी। देश में लगातार कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले और इस वैश्विक महामरी से होने वाली मौतों में वृद्धि से लोगों में खौफ व्याप्त है। अस्पतालों में बेड, वेंटिलेटर, दवा और ऑक्सीजन की भारी किल्लत है। इसी तरह की स्थिति राष्ट्रीय राजधानी में भी बनी हुई है जहां बत्रा, सर गंगाराम और जयपुर गोल्डन अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के कारण कई मरीजों की मौत हो गई।

शनिवार, 13 मार्च 2021

भाजपा विधायक ने सदन में सैनिटाइजर पी लिया

राणा ओबराय  
भुवनेश्वर। ओडिशा विधानसभा में किसानों से धान खरीद में शुक्रवार को कुप्रबंधन को लेकर हंगामेदार प्रदर्शन ने उस समय भयावह रूप ले लिया। जब इस मुद्दे पर सरकार का विरोध कर रहे भाजपा विधायक ने सदन में ही आत्महत्या करने के लिए सैनिटाइजर पी लिया। उन्होंने आरोप लगाया, कि सरकार किसानों से धान खरीदने के मुद्दे पर विचार नहीं कर रही है। विधानसभा में धान के मुद्दे पर जमकर हंगामा हुआ। सुभाष चंद्र पाणिग्रही ने उस समय सैनिटाइजर पीया। जब राज्य के खाद्य और आपूर्ति मंत्री आर पी स्वैन धान खरीद पर बयान पढ़ रहे थे। पाणिग्रही की तुरंत डॉक्टरों ने जांच की। उनकी तबीयत फिलहाल ठीक है। उन्होंने मंडी से किसानों के धान की खरीद के मसले पर ध्यान केंद्रित करने के लिए यह कदम उठाया। उन्होंने शुक्रवार को यह कदम तब उठाया जब राज्य के फूड सप्लाई और कंज्यूमर वेलफेयर मंत्री रनेंद्र प्रताप स्वैन सदन में सवालों के जवाब दे रहे थे। बता दें, कि सुभाष चंद्र पाणिग्रही ने पहले भी दो बार आत्महत्या की चेतावनी दे चुके थे।
इस घटनाक्रम से पहले रनेंद्र प्रताप स्वैन ने कहा, कि सरकार किसानों के धान की खरीद के लिए सभी उचित कदम उठा रही है। उन्होंने कहा, कि विधायकों से कहा कि वे ऐसे किसानों की लिस्ट मुहैया कराएं। जो अपनी खरीफ फसल बेचने से वंचित रह गए हैं। स्वैन ने शुक्रवार को सदन में कहा कि 26 फरवरी को कुल 57.67 मैट्रिक टन धान की खरीद 10.53 लाख रजिस्टर्ड किसानों से की गई है। अबतक 11.25 लाख किसानों से 60.40 लाख मैट्रिक टन धान की खरीद की गई है। उन्होंने कहा कि 72000 किसानों से 2.73 लाख मैट्रिक टन धान की खरीद की जा चुकी है। गौरतलब है, कि सदन में धान की खरीद के मुद्दे पर जमकर हंगामा हुआ। बीजेपी और कांग्रेस के विधायकों ने सदन में इस मसले पर राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। प्रश्नकाल शुरू होने के साथ ही दोनों पार्टियों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान सदन की कार्यवाही स्थगित भी करनी पड़ी।

शनिवार, 13 फ़रवरी 2021

1800 किलो गांजा जब्त, 3.5 करोड़ है कीमत

1800 किलो गांजा जब्त, 3.5 करोड़ है कीमत, पुलिस ने ऐसे चलाया पूरा ऑपरेशन 

भुवनेश्वर। ओडिसा से चला और रायपुर से होता हुआ मुंबई पहुंचा गांजा लेकिन रायपुर पुलिस को नहीं लगी भनक। मुंबई पुलिस ने 1800 किलो गांजा जब्त किया है। इस मामले में अबतक आकाश यादव और दिनेश सरोज नाम के दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। यादव के खिलाफ तीन मामले दर्ज हैं। ये जानकारी जॉइंट कमिश्नर मिलिंद भराम्बे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी. इस 1800 किलो गांजा की कीमत 3.5 करोड़ रुपये बताई जा रही है। यह गांजा उड़ीसा से मुंबई लाया गया था। आरोपी उड़ीसा के कंधमाल इलाके से ड्रग्स लेकर आते थे। जोकि नक्सल प्रभावित जिला है। यहां गांजा की खेती होती थी। फिर नक्सल ग्रस्त इलाकों से गांजा महाराष्ट्र और भारत के अन्य हिस्सों में भेजा जाता था। मुंबई पुलिस कई दिनों से गांजा को जब्त करने के लिए ऑपरेशन चला रही थी। कल मुंबई ठाणे रोड (विक्रोली) पर पुलिस ने ट्रैप लगाया और एक टेंपू का पीछा किया। इस टेंपू में करीब 3.5 करोड़ रुपये का 1800 किलो गांजा था। जिसे नारियल के नीचे छुपाकर रखा गया था। ये लोग हर कंसाइनमेंट के लिए नए टेंपू को भाड़े पर लेटे थे। पुलिस को अब संदीप सातपुते नाम के आरोपी की तलाश है। जिसका भिवंडी इलाके में एक गोडाउन है। वह ठाणे के लुइस वाड़ी इलाके में रहता है। और करीब 5 साल से गांजा का व्यापार कर रहा है। बतायाा जा रहा है। कि सातपुते ही मुंबई ठाणे और आसपास के इलाकों में गांजा की सप्लाई करता था। यह गैंग सिर्फ महाराष्ट्र में हर महीने 5 से 6 टन गांजा सप्लाई करता था। जिसमें से 4 टन गांजा हर महीने सिर्फ मुंबई में बेचा जाता था।

सोमवार, 1 फ़रवरी 2021

ओडिशा में पलटी पिकअप, 10 की मौत 15 घायल

भुवनेश्वर। ओडिशा के कोरापुट जिले में एक पिकअप वैन के पलटने से 10 लोगों की मौत हो गई जबकि 15 अन्य घायल हो गए। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि घटना कोटपड थाना क्षेत्र के मुर्ताहांडी में हुई है। उन्होंने बताया कि यह दुर्घटना उस समय हुई जब करीब 30 लोग पड़ोसी छत्तीसगढ़ राज्य से एक रिश्तेदार के मातम में शामिल होने के बाद अपने गांव लौट रहे थे। कोरापुट के पुलिस अधीक्षक वरुण गुंटुपल्ली ने बताया कि 10 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। उन्होंने बताया कि 15 घायलों को कोटपड़ के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...