बुधवार, 13 जनवरी 2021

सरकार बनने पर समाज को नौकरियां मिलेगी

पालूराम  
मेरठ। बहुजन मुक्ति पार्टी की सरकार बनने पर सर्व समाज को सरकारी नौकरियां मिलेगी। जितनी जिसकी संख्या भारी उतनी उसकी हिस्सेदारी मिलेगी और निजी करण को नकारा जाएगा। बहुजन मुक्ति पार्टी के पश्चिमांचल महासचिव एवं मेरठ मंडल अध्यक्ष ने अपने वक्तव्य में दक्षिण विधानसभा मेरठ में हुई। एक बैठक ने कहा कि बहुजन मुक्ति पार्टी की सरकार बनने पर ओबीसी एससी एसटी मुस्लिम सिख ईसाई कोई भी धर्म के समानता वाले अधिकारों को स्वीकारा जाएगा और समानुपात में सबको सरकारी नौकरियों का आनंद मिलेगा। जो लोकतंत्र को वर्तमान सरकार खत्म कर रही है। उस को करारा जवाब दिया जाएगा बाबा डाक्टर भीमराव अंबेडकर साहब द्वारा लिखित भारतीय संविधान में समस्त मौलिक अधिकारों को समस्त जनता को अपने अपने अधिकार मिल पाएंगे और गुलामी से छुटकारा मिलेगा आज भी हमारा देश आजाद होकर पूर्णतया आजाद नहीं है। बहुजन समाज को मुक्ति दिलाने के लिए बामसेफ की विचारधारा पर एकमात्र बहुजन मुक्ति पार्टी कार्य करती है। जिसमें मूल निवासियों को पूर्ण अधिकार पूर्ण आजादी मिलेगी आज तक भारतीय मूल निवासियों को हिंदू मुस्लिम के झगड़ों में बांटा जा रहा है। लेकिन बहुजन मुक्ति पार्टी अपनी सरकार आने पर समस्त मूल निवासियों को उनको भारतीय संविधान की लोकतंत्र की पूर्ण आजादी मिल सकेगी अन्यथा आज तक जो राजनीतिक दल कार्य कर रहे हैं सब ने हिंदू मुस्लिम की राजनीति की है। जबकि हिंदू धर्म का संस्थापक कोई नहीं है और ना ही हिंदू जाति का कोई सुराग मिला है। जबकि कुछ राजनीतिक लोग आपस में मानवता खत्म करने पर इंसानियत को शैतानियां से लड़ाया जा रहा है और आतंकवाद फैला रहे हैं। बहुजन मुक्ति पार्टी की सरकार बनने पर ऐसी हरकतों को करने वालों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी जय मूलनिवासी।

विधायक पर मुकदमा दर्ज़ कर रासुका लगाई जाए

भानु प्रताप उपाध्याय
शामली। हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली आप आदमी पार्टी के विधायक द्वारा हिन्दू युवा वाहिनी के संरक्षक व माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश परम पूज्य श्री योगी आदित्यनाथ महाराज पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने व जान से मारने की धमकी देने पर गहरा रोष प्रकट करते हुए उक्त घटना की घोर निंदा करता है और माननीय मुख्यमंत्री जी से मांग करता है कि आरोपी विधायक पर संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज़ कर रासुका लगाई जाए।
हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली प्रभारी बिट्टू कुमार ने कहा आप पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती ने वायरल वीडियो में पुलिस वालों के साथ बदतमीजी करते हुए  माननीय मुख्यमंत्री को आपत्तिजनक टिप्पणी कर जान से मारने की धमकी दी है, वह निंदनीय है। हिंदू युवा वाहिनी के संरक्षक परम पूज्य महंत श्री योगी आदित्यनाथ महाराज पर जो भी विपक्ष पार्टी का नेता हो या कोई भी व्यक्ति आपत्तिजनक टिप्पणी या जान से मारने की धमकी देगा। उसे किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा ओर उसे उसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। क्योंकि हिन्दू युवा वाहिनी परिवार पूज्य श्री योगी आदित्यनाथ जी महाराज को आदर्श मानता है और हमेशा उनके आदर्शो पर चला है। इसलिए संगठन मांग करता है कि आप पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती पर संगीन धाराओं में मुकदमा काम किया जाए। जिला संयोजक चौधरी रविंदर सिंह कालखंडे ने कहा आप पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती ने वायरल वीडियो में पुलिस वालों के साथ बदतमीजी करते हुए वर्दी  उतरवाने की धमकी दे रहे हैं। इससे यही साबित होता है, आप पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती से बड़ा गुंडा कोई नहीं है। ऐसे व्यक्ति समाज हित में क्या कार्य करेंगे जिनकी वाणी पर ही कंट्रोल नहीं है। क्योंकि आप पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती ने माननीय मुख्यमंत्री जी पर अशोभनीय टिप्पणी करके अपनी खराब मानसिकता का परिचय दिया है। उन्होंने कहा सोमनाथ शास्त्री की गुंडागर्दी यूपी में नहीं चलेगी। अगर कोई भी विपक्षी पार्टी का नेता माननीय मुख्यमंत्री के शान में आपत्तिजनक शब्द  कहेगा तो उसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।   दिल्ली में आप पार्टी का जन्म भी नहीं हुआ था। उससे पहले ही कई वर्षों से श्री योगी ने मठ की देखभाल व जनहित में राजनीति करते आ रहे हैं। माननीय श्री आदित्यनाथ योगी की राजनीति खत्म करना आप पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती जैसे व्यक्ति के बस की बात नहीं है। माननीय श्री आदित्यनाथ योगी जी के भाग्य में राजयोग लिखा है तो वे राज ही करेंगे अगले चुनाव में भी हिन्दू युवा वाहिनी परिवार अपनी मेहनत से पूर्ण बहुमत से के साथ महाराज को सत्ता मे लाएंगे उन्होंने कहा  संगठन  माननीय मुख्यमंत्री जी से मांग करता है कि आप पार्टी विधायक सोमनाथ भारती पर मुकदमा काम का रासुका लगाई जाए। इस अवसर पर चौधरी जुगमिंदर सिंह सिंह ,अजय  संगल जिला  संरक्षक,
अरविंद  कौशिक जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष,सुधीर राणा ,अमित गर्ग ,अनुजगोयल ,प्रदीपनिरवालजिलाउपाध्यक्ष ,अनुरागगोयल जिला मंत्री,आशीष निरवाल जिला आईटी संयोजक,पंकज गुप्ता नगर प्रभारी,उपेंद्र द्विवेदी नगर संयोजक,मनोज रोहिल्ला नगर अध्यक्ष,  राजेश गुप्ता नगर वरिष्ठ उपाध्यक्ष,अमरीश शर्मा नगर उपाध्यक्ष,महेश गोयल नगर महामंत्री,मांगेराम नामदेव संगठन महा मंत्री डॉ राजेंद्र बालियान आदि कार्यकर्ताओं ने वायरल वीडियो में आप पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती द्वारा पुलिस पर बदतमीजी तथा माननीय श्री आदित्यनाथ योगी आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर व जान से मारने की धमकी देने पर गहरा रोष प्रकट करते हुए उक्त घटना की घोर निंदा करता है और आरोपी पर मुकदमा काम कर रासुका लगाने की मांग माननीय मुख्यमंत्री जी से करता है।

नगर-निगम के 3 इंजीनियरों के खिलाफ नोटिस जारी

अश्वनी उपाध्याय 

गाज़ियाबाद। नगर-निगम की निर्माण इकाई द्वारा गढ़ी सिकरोड़ गांव के नाले के निर्माण में मानकों का पालन नहीं हुआ है और निर्माण सामग्री की गुणवत्ता भी संतोषजनक नहीं है। तय मानकों का पालन नहीं कराने के मामले में म्युनिसिपल कमिश्नर महेंद्र सिंह तंवर ने नगर निगम के तीन इंजीनियरों के खिलाफ कारण बताओ, नोटिस जारी किया है। चीफ इंजीनियर मोइनुद्दीन की जांच रिपोर्ट के आधार पर यह कार्रवाई की गई है। नगर-निगम के एग्जयूकेटिव इंजीनियर देशराज सिंह, असिस्टेट इंजीनियर श्याम सिंह और जूनियर इंजीनियर योगेश कुमार के खिलाफ यह कार्रवाई की गई है। इसके साथ ही मुरादनगर श्मशान घाट के आरोपी अजय त्यागी की तीनों फर्मों को ब्लैक लिस्ट कर उसके भुगतान पर भी रोक लगा दी गई है। अजय त्यागी की फर्म को जिन कामों के कंट्रैक्ट मिले थे। उसे खत्म कर दिया गया है और अब नई फर्म को कंट्रैक्ट दिया गया है। अजय त्यागी के नगर-निगम में 15 काम मिले थे। इन सभी कामों का कंट्रैक्ट निरस्त कर दिया गया है। नगर निगम अब इन कामों को पूरा कराने के लिए दोबारा से टेंडर जारी करेगा। नगर-निगम में अजय त्यागी की माही कंस्ट्रक्शन एंड बिल्डर्स, कृष्णा इंटरप्राइजेज और अजय त्यागी कंट्रेक्टर नाम से तीन फर्म रजिस्टर्ड है और इन्हीं फर्मों पर सभी काम लिए गये हैं। इन फर्मों द्वारा सड़क, नाला निर्माण के लिए अलावा पार्कों का भी काम लिया गया था। माही कंस्ट्रक्शन एंड बिल्डर्स को 3.4 करोड़ के 7 काम, कृष्णा इंटरप्राइजेज को 36 लाख के कार्य और अजय त्यागी कंट्रेक्टर फर्म को 3.4 करोड़ के 7 काम का टेंडर ई-टेंडर प्रक्रिया के तहत मिला था। अजय त्यागी मुरादनगर श्मशान घाट हादसे का आरोपी है, इसलिए उसकी तीनों फर्मों को ब्लैक लिस्ट कर दिया गया है। इसके अलावा उसकी फर्म द्वारा पिछले पांच साल के दौरान कराए कार्यों की भी नगर-निगम ने जांच शुरू करा दी है। म्युनिसिपल कमिश्नर महेंद्र सिंह तंवर ने बताया कि ठेकेदार अजय त्यागी की तीनों फर्म को ब्लैक लिस्ट करने के बाद भुगतान पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी गई हैं। मोरटा समेत कई जगह काम बंद करा दिए गए। इन कामों को दूसरी फर्मों से कराया जाएगा। ताकि लोगों को कोई परेशानी ना हो। गढ़ी सिकरोड में 1.34 करोड़ में माही कंस्ट्रक्शन द्वारा नाले का निर्माण किया गया था। इसकी टीएसी से जांच कराई। टीएसी ने काम संतोष जनक नहीं पाया। इस मामले में जेई, एई और एग्जयूकेटिव इंजीनियर से स्पष्टीकरण मांगा गया है।

डीएम ने महिला चिकित्सालय का 'निरीक्षण' किया

अश्वनी उपाध्याय 

गाजियाबाद। कोविड-19 वैक्सीनेशन अभियान के दृष्टिगत डीएम अजयशंकर पांडे ने महिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण किया। जहां उन्होंने कोविड वैक्सीनेशन का सुरक्षित रख-रखाव एवं टीका लगाए जाने के स्थान इत्यादि का निरीक्षण किया। इसके साथ ही अभिलेखों का सत्यापन, कोविन एप से मिलान, हाथों को सैनिटाइज करने के बाद ड्राई टीका का रिहर्सल देखा। डीएम अजयशंकर पांडे ने जिला महिला अस्पताल में मॉकड्रील का भी अवलोकन किया। 16 जनवरी से शुरू होने वाले वैक्सीन अभियान को लेकर डीएम ने मौके पर मौजूद मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं अन्य मेडिकल स्टाफ को वैक्सीनेशन लगाए जाने के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए। कहा कि शासन स्तर से जारी गाइडलाइन का पालन किया जाये। इस मौके पर मुख्यचिकित्साधिकारी डॉ. एन के गुप्ता, संजय तेवतिया समेत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

भ्रष्टाचार का स्मारक बना मुरादनगर श्मशान घाट

अश्वनी उपाध्याय   

गाजियाबाद/मुरादनगर। मुरादनगर में 3 जनवरी को श्मशान घाट का लैंटर गिरने से 25 लोगों की मौत हो गई थी। अब उस स्थान पर चारों ओर मलबे के ढेर लगे हुए हैं। ये मलबा उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार का ऐसा स्मारक बन गया है। जिसे ना कोई देखना चाहता है और न इसके बारे में बात करना चाहता है। ठेकेदार और कुछ अधिकारियों की गिरफ्तारी के बाद सरकारी विभागों में शांति है। भ्रष्टाचार पर सवाल उठाते ही जिला प्रशासन और अन्य विभाग के अधिकारियों का वही रटा रटाया जवाब मिलता है कि इस मामले में एसआइटी की जांच जारी है। रिपोर्ट आने के बाद ही हम कुछ कहने की स्थिति में होंगे। वहीं मुरादनगर नगर पालिका के मनोनीत सदस्य महंत विजयपाल हितकारी कहते हैं कि उन्होंने अक्टूबर में इस बात की शिकायत की थी कि श्मशान घाट के लैंटर को बनाने में घटिया सामान का इस्तेमाल किया जा रहा है। वे बताते हैं। जब निर्माण चल रहा था तो मैं श्मशान घाट गया था। वहां कच्ची पीली ईंटें पड़ी हुई थीं। मसाले में दस परात रेत में एक परात सीमेंट मिलाया जा रहा था। मैंने तुरंत जिला प्रशासन को इसकी जानकारी दी थी। नगर पालिका में भी इसकी शिकायत की। लेकिन भ्रष्टाचारी ठेकेदार और इंजीनियरों की साठ-गांठ इतनी गहरी थी कि मेरी शिकायत पर कार्रवाई नहीं हुई।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर हुई बातचीत

राणा ओबराय
चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की गृह मंत्री अमित शाह के साथ बातचीत हुई। जिसके बारे में उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन, कृषि कानून और सुप्रीम कोर्ट के फैसलें को लेकर उनकी बातचीत हुई है। वहीं उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने आज अपना निर्णय लिया है सुप्रीम कोर्ट ने कानून को स्टे कर दिया है, एक कमेटी बनाई है। कमेटी सुप्रीम कोर्ट को रिपोर्ट देगी।सुप्रीम कोर्ट के निर्णय करेगा इन सभी विषयों पर गृह मंत्री से बातचीत हुई है। वहीं उन्होंने कहा कि 26 जनवरी राष्ट्रीय उत्सव है। वह कार्यक्रम अच्छे से हो जाए यह शांति पूर्वक हो जाए इन सभी विषयों पर बातचीत हुई और उन्होंने आशा जताई है कि सुप्रीम कोर्ट ने स्टे लगा दिया है। अब किसान बंधु आंदोलन को स्थगित कर करेंगे। हरियाणा की राजनिती के बारे में उन्होंने कहा कि हरियाणा में राजनीतिक माहौल ठीक है, जो राजनीतिक अटकलें लगाई जाती है। उन अटकलों में कोई दम नहीं है। हमारी सरकार सुंदर तरीके से चल रही है। पूरा कार्यकाल करेगी। किसान आंदोलन के दौरान किसानों पर हुए केस को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि केस वापस करना पुलिस का काम होता है। पुलिस वेरिफिकेशन करेगी यह सरकार का काम नहीं है।

कोटेदार भी बिजली बिल जमा कर सकतें हैं

कौशाम्बी। विद्युत उपभोक्ताओं के लिए राहत भरी खबर है। अब उन्हें विद्युत विभाग के भीड़ में खड़े होकर बकाया विद्युत बिल जमा करने से बचने का रास्ता विभाग ने आसान कर दिया है। अब गांव गांव राशन वितरण करने वाले कोटेदार को बिधुत बिल जमा करने की ट्रेनिंग दे दी गई है और उन्हें विद्युत उपभोक्ताओं के विद्युत बकाया बिल को जमा करने की अनुमति विभाग ने दे दी है। मंझनपुर और चायल तहसील क्षेत्र में एक सप्ताह लगातार कोटेदारों को ट्रेनिंग देकर विद्युत बिल जमा करने के तरीके बताए गए हैं। जल्द ही सिराथू तहसील क्षेत्र के भी कोटेदारों को ट्रेनिंग दे दी जाएगी।बिजली उपभोक्ताओं के बकाया बिलों को कोटेदार की दुकान में जाकर उपभोक्ता जमा कर सकते हैं। अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण खंड चायल राजेश कुमार मौर्या ने बताया कि कोटेदारों को प्रोत्साहित करने के लिए विभाग द्वारा कमीशन भी दिया जा रहा है और साथ-साथ जिन उपभोक्ताओं के विद्युत बिलों में गड़बड़ी है। कोटेदारों की सूचना पर गांव में बिधुत कैंप लगाकर विभाग द्वारा विद्युत बिल सुधार कर दिया जाएगा। जिससे उपभोक्ताओं को राहत मिलेगी और विभाग का बकाया भी जमा होगा। उन्होंने कहा कि कोटेदारों के उत्साह वर्धन का भरसक प्रयास किया जाएगा। कोटेदारों को ट्रेनिंग देने के समय ई पास मशीन के नोडल अफसर मौजूद रहे और उन्हें ट्रेनिंग दी है। ट्रेनिंग के समय जिला पूर्ति अधिकारी अमित कुमार तिवारी पूर्ति निरीक्षक रेनू द्विवेदी सत्येंद्र राय निखिल कुमार प्रवीण कुमार सहित तमाम लोग मौजूद रहे उक्त जानकारी जिला पूर्ति अधिकारी अमित कुमार तिवारी ने दी है।
सुशील केसरवानी 

अवैध शराब कारोबारियों पर चला चाबुक, 2 दबोचे

अतुल त्यागी
हापुड़। एसपी नीरज कुमार जादौन के अवैध शराब कारोबार पर अंकुश लगाने के अनुपालन में सी ओ गढमुक्तेश्वर पवन कुमार के निर्देशन में बहादुरगढ़ थाना प्रभारी राजीव कुमार बालियान के नेतृत्व में एस एस आई लाला राम शर्मा, क्राइम डिटैक्सन से सुनील चौधरी, अजय कुमार ने थाना क्षेत्र गंगा खादर में मुखबिर की सूचना पर छापामारी की तो चार शराब तश्कर शराब तैयार करते मौके से हिरासत में लिया। जिनके पास से 180 लीटर कच्ची शराब शराब तैयार करने में प्रयुक्त सभी उपकरण बरामद करते हुए करीब 400 लीटर नष्ट किया। पुलिस पूछताछ में चारो ने 1.देवीसरन मौहम्मदपुर रुस्तमपुर...
 2. लेखराज निवासी मौहम्मदपुर रुस्तमपुर
 3. बिजेंद्र निवासी पसवाडा
 4. धर्मसिंह निवासी बलवापुर
बताये। थाना बहादुरगढ़ प्रभारी राजीव कुमार बालियान का कहना है कि अवैध कारोबार को पनपने नहीं दिया जायेगा।

हापुड़: हॉस्पिटल में कार्डियोलॉजी ओपीडी सेवा शुरू

अतुल त्यागी
हापुड़। ग्रेटर नोएडा और समूचे उत्तर प्रदेश में मरीजों को सेवा देने का शानदार रखने के साथ ही यथार्थ सुपरस्पेशियल्टी हॉस्पिटल, नोएडा ने दिल के मरीजों के लिए हापुड़ के देवनंदिनी हॉस्पिटल में अपनी कार्डियोलॉजी ओपीडी सेवा शुरू की है। आसपास के क्षेत्रों में कार्डियोलॉजी के लिए पहली समर्पित ओपीडी होने और सर्वश्रेष्ठ डायग्नोस्टिक और उपचार में स्पेशलिस्ट होने के कारण इससे हापुड़ के निवासियों को बहुत फायदा होगा। इस मौकैं पर मुख्य चिकित्साधिकारी डा.रेखा शर्मा ने कहा कि जनपद में कार्डियोलॉजी शुरु होनें से हापुड़ वासियों को लाभ मिलेंगा। ये एक अच्छी शुरुआत हैं। जिसके लिए देवनंदनी व यर्थाथ हास्पिटल बंधाई के पात्र हैं। देवनंदनी अस्पताल की सीएमडी डा. विमलेश शर्मा ने कहा कि छोटे शहरों में भी जरुरत है। सारी  सुविधा इस हास्पिटल में मिलें,इसलिए  कार्डिलोजी सुविधा शुरू की। अस्पताल के चेयरमैन डा.श्याम कुमार ने कहा कि आज कम  उम्र में हार्ट की समस्या हो रही है। ये बडी समस्या है।पूरी दुनिया में हार्ट से मौत हो रही है। समस्याओं को समाधान करने का प्रयास हैं। कार्यक्रम में यर्थाथ हास्पिटल के चेयरमैन डा.प्रदीप त्यागी, डायरेक्टर डा.यर्थाथ त्यागी ने कहा कि नोएड़ा में एनसीआर का बड़ा कोविड़   हास्पिटल  है। जिसके माध्यम से कोविड़ मरीज की सेवा की गई। हापुड़ में हार्ट के मरीजों की सेवा सौभाग्य की बात हैं। यर्थाथ हास्पिटल मरीजों की आकांक्षाओं पर खरा उतरेगा।
इस मौकें पर डा. अशोक मैत्रेय,डा.शिव कुमार,संजय त्यागी, डा.पीसी शर्मा, डा.योगेश गोयल,डा.वीपी अग्रवाल, डा. राय,दुष्यंत त्यागी, नैय्यर आदि लोग मौजूद थे। हापुड़ के लोगों के लिए अपनी सेवा का विस्तार देते हुए अस्पताल ने मरीजों की सुविधा पर केंद्रित एक और अहम कदम उठाया है। ताकि विश्व स्तरीय सेवाओं के जरिये उन्हें गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकें। हापुड़ से यतार्थ अस्पताल, नोएडा तक कार्डियक एम्बुलेंस की भी व्यवस्था है।
यह ओपीडी हर बुधवार को दोपहर 12:30 बजे से 2:30 बजे तक दिल के मरीजों के लिए खुला रहेगा जिससे हापुड़ और आसपास के क्षेत्रों के निवासियों को यथार्थ हॉस्पिटल के प्रमुख स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सेवा मिल सकेगी।
कोविड-19 महामारी के साथ ही सर्दियां बढ़ने के कारण लोगों को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होने लगी हैं। इसके अलावा दूसरी श्रेणी के शहरों के निवासियों में बढ़ते शहरीकरण की प्रवृत्ति के कारण उनकी दिनचर्या की आदतें और खानपान में भी बड़ा बदलाव आया है, इस कारण भी उन लोगों की लाइफस्टाइल से जुड़ीं बीमारियों में भी इजाफा हुआ है।
नोएडा स्थित यथार्थ सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के कार्डियक साइंसेज और सी टी वी एस विभाग के प्रमुख, डॉ। अखिल रस्तोगी ने कहा, ‘हमारी इस ओपीडी सेवा से हम लोगों में शुरुआती स्तर पर ही दिल की बीमारियां पहचानने के महत्व के प्रति जागरूक करना चाहते हैं क्योंकि जब तक मरीज की हालत बिगड़ नहीं जाती तब तक वे शुरुआती लक्षण की अनदेखी करते रहते हैं। हम लोगों को इसके प्रति संवेदनशील करना चाहते हैं और उन्हें शुरुआती लक्षण मिलते ही उपचार शुरु कराने के फायदे बताना चाहते हैं। भारत में परिवर्तनशील और अपरिवर्तशील रिस्क फैक्टर्स समेत कई कारणों से लोगों में कार्डियक संबंधी रोग बड़ी तेजी से बढ़ रहे हैं। युवाओं में खराब और व्यायामरहित जीवनशैली, अल्कोहल का अधिक सेवन तथा धूम्रपान की आदतें न सिर्फ डायबिटीज और हाइपरटेंशन का खतरा बढ़ाती हैं, बल्कि आगे चलकर उन्हें दिल की बीमारियों की चपेट में भी ले लेती हैं।’
हाल के दिनों में हुई तरक्की और अच्छी कनेक्टिविटी के कारण इस क्षेत्र के मरीज आपात स्थिति में भी आसानी से बहुत कम समय में यथार्थ हॉस्पिटल, नोएडा पहुंच सकते हैं। इससे उन्हें न सिर्फ कम समय में उपचार सुविधा मिल जाती है बल्कि विश्व स्तरीय विशेषज्ञों की सलाह और सेवाएं भी कम खर्च पर ही मिल जाती है।
यथार्थ ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के निदेशक यथार्थ  त्यागी ने कहा ‘कार्डियक साइंस के क्षेत्र में कई तरह की प्रगति होने के कारण कई जटिल मामलों का इलाज भी यथार्थ हॉस्पिटल में सफलतापूर्वक हो गया है। खासकर 25-45 साल की उम्र के लोगों को लाइफस्टाइल से जुड़ीं इन बीमारियों से बचने के उपाय जरूर अपनाने चाहिए। यथार्थ ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल्स, के सेंटर फॉर हार्ट एंड कार्डियक साइंसेज में अत्याधुनिक कार्डियक केयर यूनिट, कार्डियोलॉजिस्ट, एंजियोग्राफी, एंजियोप्लास्टी, पीडियाट्रिक इको, होल्टर मॉनिटरिंग, 3 डी इको, स्ट्रेस इको की 24 घंटे उपलब्धता है। उन्नत तकनीकों के अलावा, अस्पताल कोरोनरी आर्टरी बाईपास ग्राफ्टिंग (CABG), पेसमेकर इम्प्लांटेशन, डिवाइस इम्प्लांटेशन, वैरिकाज़ नस सर्जरी, वाल्व सर्जरी और संवहनी सर्जरी करने में अत्यधिक कुशल है।

हापुड़ः 46 करोड़ की लागत से प्लांट का कार्य किया

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी
हापुड़। जनपद की तीर्थनगरी गढ़मुक्तेश्वर में शासन के निर्देश पर जलनिगम द्वारा 46 करोड़ की लागत से क्षेत्र में सीवर लाईन व ट्रीटमेंट प्लांट का कार्य किया गया। परन्तु अधिकारियों की लापरवाही से सीवर लाईन चाक पड़ी हैं। जबकि ट्रीटमेंट प्लांट बंद पड़ा हैं और गंदा पानी गंगा में बहाया जा रहा हैं। शिकायतें होनें के बावजूद कार्यवाही ना होनें से  लोगों में भारी रोष व्याप्त हैं। जानकारी के अनुसार जनपद की तीर्थनगरी गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र में लगभग 5 साल पूर्व जलनिगम ने 46 करोड़ की लागत से सीवर लाईन बिछाई थी और नयाबांस में ट्रीटमेंट प्लांट लगाया था। क्षेत्रीय सभासद शहनवाज ने बताया कि जलनिगम की लापरवाही से सीवरलाइन चाक हुई पड़ी हैं और ट्रीटमेंट प्ल़ाट बंद हैं। जिससे गंदा पानी गंगा में जा रहा हैं। जिसकी शिकायत अनेक बार तहसील दिवस में कर उधर लोगों ने बताया कि सीवर के ढक्कन विभिन्न स्थानों पर  टूटनें से कई लोग घायल हो गए हैं। परन्तु अधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही हैं।

नक्सलियों के बींच हुई मुठभेड़, ईनामी अरेस्ट

दंतेवाड़ा। जिले के चिकपाल और मारजुम में सुरक्षाबलों के साथ 45 मिनट तक चली मुठभेड़ में इनामी नक्सली मारा गया। मारे गए नक्सली पर 5 लाख का इनाम था। जो कि पुलिस की लिस्ट में शामिल था। जानकारी के मुताबिक नक्सल विरोधी अभियान के तहत सीएएफ और डीआरजी के जवानों को सर्चिग के लिए जंगल में भेजा गया था। इसी दौरान घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया। इस दौरान चिकपाल और मारजुम के बीच जंगलों के बीच नक्सलियों से मुठभेड़ हो गई। इस मुठभेड़ में एक नक्सली की मौत हो गई। मारे गए नक्सलियों की पहचान हिडमा मुचाकी के रूप में हुई है। इस दौरान जंगल में सर्चिग के दौरान सुरक्षाबलों को चिकपाल और मार्जुम के बीच जंगलों में नक्सलियों का डंप बरामद किया है। नक्सलियों ने सड़क किनारे गड्‌ढ़ा कर उसमें विस्फोटक तार, और अन्य सामान बरामद किया है।

16 जनवरी से पोलियो टीकाकरण अभियान नहीं

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। देश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन शुरू होने जा रहा है। इसी बीच 17 जनवरी से होने वाले पोलियो टीकाकरण दिवस की तारीख को आगे बढ़ा दिया गया है। पूरे देश में 17 जनवरी से पोलियो टीकाकरण दिवस अभियान शुरू किया जाना था।स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया कि अप्रत्याशित गतिविधियों के कारण अभी इस कार्यक्रम को अगले आदेश तक रद्द किया जाता है। पोलियो अभियान को टालने के पीछे की वजह कोरोना वैक्सीनेशन को माना जा रहा है। मगर पोलियो टीकाकरण अभियान कब शुरू होगा और इसकी नई तारीख पर अभी कोई जानकारी सामने नहीं आई है। बता दें कि 27 मार्च 2014 को देश को पोलियो मुक्त घोषित कर दिया गया था। पोलियो का पुनावृत्ति ना हो इसी एहतियातन टीकाकरण अभियान कार्यक्रम शुरु किया गया।

यूपी: शादीशुदा बहन का भाई ने किया रेप, मुकदमा

मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में रिश्तों को शर्मसार करने वाली एक घटना सामने आई है। यहां एक शख्स पर अपनी विवाहिता छोटी बहन के साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगा है। जबकि उसके दोस्त पर आरोप है कि उसने इस कृत्य को फिल्माया है। घटना पिछले महीने 23 दिसंबर को पीड़िता के पति की गैरमौजूदगी में हुई थी। खबरों के मुताबिक, वह शख्स अपनी छोटी बहन के घर पर नशे की हालत में आया और उसके साथ दुष्कर्म किया। उसके दोस्त ने भी शराब पीकर उसके कृत्य को मोबाइल फोन में फिल्मा लिया। आरोपी ने किसी को सूचित करने पर वीडियो क्लिप को ऑनलाइन अपलोड करने की धमकी भी दी। लेकिन जब आरोपी पीड़िता का पीछा करने लगा और उसे परेशान करने लगा तो उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। महिला के माता-पिता ने शुरू में पुलिस के पास नहीं जाने के लिए उस पर दबाव डाला। हालांकि, उत्पीड़न और धमकी के बाद, पीड़िता ने शिकायत दर्ज करने का फैसला किया और मुरादाबाद पुलिस ने सोमवार को उसके भाई और उसके दोस्त के खिलाफ एफआईआर दर्ज की।

अत्याचार: कार से बांधकर कुत्ते को शहर में घसीटा

एस्टाना। जानवरों पर अत्याचार की खबरें अकसर सामने आती रहती हैं। कई लोग क्रूरता की हद कर देते हैं। ऐसी ही एक घटना कजाकिस्तान से सामने आई है। यहां एक शख्स ने अपनी कार के पीछे एक बेजुबान कुत्ते को बांधा और पूरे शहर में घसीटता रहा।
घटना में कुत्ते के शरीर से कई जगह खून निकलने लगा और वह बुरी तरह घायल हो गया। घटना 7 जनवरी की बताई जा रही है और इसका एक वीडियो भी सामने आया है।
गौरतलब है कि ये मामले तब सामने आया जब इस घटना को कार चालक अंजाम दे रहा था और वहां एक शख्स अपनी बाइक से गुजर रहा था। उसने पहले कार चालक से पूछा कि वो ये क्या कर रहा है तो कार चालक ने कोई जवाब नहीं दिया। बाइक वाले बंदे ने उसे काफी हॉर्न दिया। बाद में उसने कार रोकी और बड़ी बेरहमी से जूते से जख्मी डॉगी को साइड किया और कार लेकर चला गया। बाइक चालक ने बताया कि पीछे पूरी सड़क डॉगी के खून से लाल हुई थी। इसके बाद जानवरों के हित के लिए काम करने वाला एक संगठन काइंड हार्ट इस कुत्ते को अपने साथ ले आया और सोशल मीडिया से घटना की जानकारी दी। इसके बाद कुत्ते का पेन किलर दी गई और टीम उसके इलाज में जुटी है।

जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या-20 हुईं

भोपाल। मध्य प्रदेश में मुरैना जिले के दो गांवों मानपुर और पहावाली में सोमवार रात को कथित तौर पर जहरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत हुई थी। मामले में मंगलवार रात से 6 और लोगों की जान ले ली है और मरने वालों की संख्या बढ़कर 20 हो गई है। मरने वाले इन सभी पीड़ित अस्पताल में ही भर्ती थे।
पुलिस ने कहा कि मुरैना और ग्वालियर जिलों में 17 पीड़ितों को अभी भी अस्पताल में भर्ती कराया गया है और उनकी हालत गंभीर है। मामले में पुलिस के एक उप-विभागीय अधिकारी सुजीत सिंह भदोरिया को बुधवार को निलंबित कर दिया गया। अधिकारियों के अनुसार  इससे पहले एक थाना प्रभारी और जिला आबकारी अधिकारी को अधिकारियों द्वारा निलंबन के तहत रखा गया था।
पुलिस ने बताया कि आईपीसी की धारा 304 और आबकारी अधिनियम की संबद्ध धाराओं में मामला दर्ज किया गया है तथा जांच और पूछताछ के लिए कुछ व्यक्तियों को हिरासत में भी लिया गया है। मध्य प्रदेश में बीते तीन माह में इस तरह की यह दूसरी घटना है। इससे पहले अक्टूबर माह में उज्जैन में जहरीली शराब पीने से 14 लोग मारे गए थे।
घटना को गंभीरता से लेते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, '' मुरैना में जहरीली शराब दुर्घटना अत्यंत दु:खद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है। दुर्घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं। कमिश्नर ग्वालियर-चंबल ने जांच दल बनाया है, जिसने जांच प्रारंभ कर दी है। जो भी व्यक्ति दोषी होंगे, उनके विरुद्ध कठोर कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा, ''घटना में प्रथमदृष्टया सुपरविजन में लापरवाही पाए जाने पर, जिला आबकारी अधिकारी मुरैना को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है।   इस बीच, अवैध शराब के सेवन से 14 लोगों की मौत होने और 20 अन्य के बीमार होने पर एक पुलिस अधिकारी को भी निलंबित किया गया है।  मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा, '' मुरैना में जहरीली शराब पीने से हुई मौत की घटना बेहद दुखद और पीड़ादायक है। इस मामले में संबंधित थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है। घटना के लिए जिम्मेदार कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा।

यूपी: लेखपाल ने की 36 बच्चों से हैवानियत

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में उरई के रिटायर्ड लेखपाल ने 36 बच्चों के साथ हैवानियत की। नशीला पदार्थ पिलाकर वह बार-बार इनसे हैवानियत करता रहा। दो बच्चों के रिपोर्ट लिखाने के बाद सनसनीखेज मामला सामने आया। उरई के कोंच से भगत सिंह नगर निवासी रियार्ड लेखपाल राम बिहारी के खिलाफ मोहल्ले के दो बच्चों ने रिपोर्ट दर्ज कराई है, कि उनको काम के बहाने अपने घर बुलाया। कोल्ड ड्रिंक के साथ नशीला पदार्थ पिलाकर उनको अश्लील फिल्में दिखाईं और फिर उनका यौन शोषण किया। इन बच्चों के अनुसार उसने कई बार उनके साथ हैवानियत की। बुधवार सुबह रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पुलिस ने छानबीन शुरू की तो उसके लैपटाप और मोबाइल में 320 अश्लील वीडियो मिले, इसमें कई वीडियो कोंच के बच्चों के साथ ही बनाए गए हैं।
पुलिस की अब तक की छानबीन में सामने आया की उसने 36 बच्चों के साथ इसी तरह हैवानियत की है। इसके अलावा 2-3 गरीब महिलाएं भी हैं जिनको राशन कार्ड व अन्य काम के बहाने घर बुलाया और नशीला पदार्थ खिलाकर रेप किया। इंस्पेक्टर कोंच इमराम खान के अनुसार छानबीन जारी है हालांकि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है कि 50 बच्चों के साथ हैवानियत करने वाले बांदा के जेई की तरह इसने अश्लील वीडियो बना ऑनलाइन व्यापार किया है या नहीं। इंस्पेक्टर के अनुसार उसको गिरफ्तार कर लिया गया है और पूछताछ की ज रही है।

हज यात्रियों के लिए मेडिकल टीम का गठन किया

रायपुर। हज-2021 के लिए अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय भारत सरकार की ओर से हिन्दुस्तान से जाने वाले हज यात्रियों की चिकित्सा सहायता के लिए मेडिकल टीम की प्रतिनियुक्ति की जाएगी। छत्तीसगढ़ राज्य हज कमेटी के अध्यक्ष मोहम्मद असलम खान ने बताया मेडिकल टीम के लिए प्रतिनियुक्ति पर राज्यों में कार्यरत शासकीय मुस्लिम एैलोपैथिक डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टॉफ से आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। इच्छुक आवेदक अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की वेबसाइट  www.haj.nic.in/deputation में उपलब्ध ऑनलाइन आवेदन भर सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन पूर्ण करने के बाद उसकी मूल प्रति संबंधित विभाग के माध्यम से अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय भारत सरकार को सहपत्र के साथ भेजा जाए। प्रतिनियुक्ति की अवधि 2 से 3 माह की होगी। ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित करने की अंतिम तिथि 5 फरवरी निर्धारित है। अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय भारत सरकार ने मेडिकल टीम के साथ-साथ प्रतिवर्ष काउंसल जनरल ऑफ इंडिया के अधीन कोऑर्डिनेटर, हज ऑफिसर और हज असिस्टेंट के पदों पर कार्य करने के लिए प्रतिनियुक्ति पर शासकीय मुस्लिम अधिकारियों और कर्मचारियों से भी आवेदन आमंत्रित किए हैं। इन पदों के लिए भी ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 5 फरवरी निर्धारित की गई है। प्रतिनियुक्ति पर डॉक्टर्स, पैरामेडिकल स्टॉफ, कोऑर्डिनेटर, हज ऑफिसर और हज असिस्टेंट के पदों के लिए इच्छुक आवेदक वांछित दिशा-निर्देश, चयन के लिए निर्धारित अर्हताएं, अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की वेबसाइट  www.haj.nic.in/deputation  से और कार्यालय छत्तीसगढ़ राज्य हज कमेटी से संपर्क कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए कार्यालय छत्तीसगढ़ राज्य हज कमेटी, मुखर्जी बाड़ा बैरन बाजार रायपुर के दूरभाष क्रमांक 0771-4266646 पर संपर्क किया जा सकता है।

अमेरिका: लड़की के सीने से बाहर है दिल, परेशानी

वाशिंगटन डीसी। अमेरिका में रहने वाली एक लड़की बेहद दुर्लभ परेशानी से गुजर रही है। जिसके चलते गर्भ में ही उनकी पेट की मांसपेशियां और पसलियां गलत तरीके से फॉर्म हो गई थी। गोनचारोवा को अपनी इस कंडीशन के चलते कोई दर्द तो महसूस नहीं होता है। लेकिन इसके चलते उसका दिल काफी एक्सपोज हो चुका है। इसके अलावा उनके दिल में छेद भी है। गोनचारोवा को अपने हालातों के चलते अक्सर अस्पताल में भी समय बिताना पड़ता है।साल 2020 की शुरुआत में उनका ऑक्सीजन लेवल काफी तेजी से गिरने लगा था जिसके बाद उन्हें इमरजेंसी रूम ले जाया गया था और अगले दो हफ्तों में अस्पताल में समय बिताने के बाद गोनचारोवा का ऑक्सीजन का स्तर सामान्य हुआ था।

ढांचा विध्वंस पुनरीक्षण याचिका पर सुनवाई टलीं

बृजेश केसरवानी  
लखनऊ/प्रयागराज। इलाहाबाद उच्च न्‍यायालय की लखनऊ खंडपीठ में अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले के फैसले को चुनौती देने वाली पुनरीक्षण याचिका पर सुनवाई दो सप्ताह के लिये टाल दी गई है। याचिकाकर्ताओं ने बुधवार को अदालत से मांग की थी कि उन्हें अपनी याचिका में कुछ कमियों को दूर करने के लिये कुछ और समय चाहिये। यह याचिका न्‍यायमूर्ति राकेश श्रीवास्तव की एकल पीठ के समक्ष सूचीबद्ध थी। न्यायमूर्ति श्रीवास्तव ने रजिस्टरी कार्यालय से मामले को दो सप्ताह बाद सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया है। यह याचिका अयोध्या निवासी हाजी महबूब अहमद और सैयद अखलाक अहमद की ओर से दाखिल की गई है।

याचिका में विवादित ढांचा विध्वंस मामले के 30 सितम्बर 2020 के सीबीआई अदालत के फैसले को चुनौती देते हुए पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी, प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, भाजपा के वरिष्ठ नेताओं – मुरली मनेाहर जोशी , उमा भारती और विनय कटियार – समेत सभी 32 आरोपियों को बरी करने के विशेष अदालत के फैसले को गलत एवं तथ्यों के विपरीत बताया गया है।

याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता इस मामले में गवाह होने के साथ-साथ विवादित ढांचा विध्वंस की घटना के पीड़ित भी हैं। याचिकाकर्ताओं का यह भी कहना है कि अभियुक्तों को बरी करने के फैसले के विरुद्ध सीबीआई ने आज तक कोई अपील दाखिल नहीं की है लिहाजा याचियों को वर्तमान पुनरीक्षण याचिका दाखिल करनी पड़ी है। याचिका में सभी 32 अभियुक्तों को दोषी करार दिये जाने की मांग की गई है।

गौरतलब है कि 30 सितम्बर 2020 को सीबीआई की विशेष अदालत ने लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, साक्षी महाराज, लल्लू सिंह, बृजभूषण शरण सिंह व महंत नृत्य गोपाल दास समेत सभी जीवित 32 अभियुक्तों को बरी कर दिया था।

कृषि कानूनों की प्रतियां जलाकर विरोध व्यक्त

अली अकबर 

काशीपुर। केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए तीन कृषि विधेयक बिलो को वापस लिए जाने की मांग करते हुए सैकड़ों की तादाद में किसानों ने नगर के मुख्य चौराहे पर एकत्रित होकर कृषि कानून की प्रतियों को जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। बता दें कि भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में सैकड़ों किसानों ने दोपहर करीब 3:00 बजे चीमा चौराहे पर एकत्रित होकर काले झंडे लेकर केंद्र सरकार के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए कृषि बिलों की प्रतियां जलाई। तथा सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी की। भारतीय किसान यूनियन के बलविंदर सिंह संधू ने कहा कि जब तक तीनों काले कृषि कानूनों को सरकार के द्वारा वापस नहीं लिया जायेगा तब तक किसान घर वापस नहीं लौटेंगे। किसान बिल की प्रतियां फूंकने वालों में बलविंदर सिंह संधू, प्रताप सिंह, गगन कंबोज, बलविंदर सिंह, मनप्रीत सिंह, जगपाल सिंह, गुरप्रीत सिंह, गुरदास सिंह, जगमोहन सिंह, एडवोकेट हरीश कुमार, टीका सिंह सैनी, राजू छीना, दर्शन सिंह, बलदेव सिंह, बलकार सिंह फौजी, चमकौर सिंह, हरविंदर सिंह तथा कश्मीर सिंह समेत सैकड़ों की तादाद में किसान मौजूद रहे।

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ने जताई चिंता

नई दिल्ली। निर्णय लेने वाले निकायों में महिलाओं की उपस्थिति पर बल देते हुए राष्ट्रीय महिला आयेाग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने मंगलवार को कहा कि राजनीतिक दल उन्हें केवल तभी टिकट देते हैं। जब उनका पुरुष नेता से 'संपर्क' हो। उन्होंने हैदराबाद के मौलाना आजाद नेशनल उर्दू विश्वविद्यालय के महिला अध्ययन केंद्र द्वारा आयोजित एक वेबिनार में डिजिटल माध्यम से अपने संबोधन में कहा कि महिलाओं को निर्णय लेने वाले निकायों, संसद और विधानमंडलों में होना चाहिए। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने मंत्रालयों में महिला संख्या पर भी चिंता जताई। उन्होंने कहा, 'हां, ऐसी महिलाएं हैं जो अच्छे मंत्रालयों मे हैं। लेकिन उनकी संख्या बहुत कम है। शर्मा ने चुनाव टिकट बंटवारे में राजनितिक दलों द्वारा महिलाओं पर भरोसा न करने पर भी दुःख जताया। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल महिलाओं को टिकट देना नहीं चाहते हैं क्योंकि उन्हें डर है कि वे चुनाव हार जाएंगी। उन्होंने कहा, ''वे ऐसे व्यक्ति को टिकट दे सकते हैं जिनकी समाज में अच्छी छवि नहीं है, ऐसा व्यक्ति जिसके खिलाफ आरोप हैं, लेकिन वे (राजनीतिक दल) महिला को टिकट नहीं देंगे। शर्मा ने कहा कि अगर कोई महिला टिकट पा जाती है तो भी उसका राजनीति में मौजूद किसी व्यक्ति से संपर्क जरूरी होता है जिससे चेहरा तो उसका हो लेकिन उसकी ओर से काम कोई अन्य करे।

विकास का ढिंढोरा पीटती है भाजपा, सच अलग

आश्वासन के बाद नहीं खड़े हुए बिजली के खम्मे ना ही लगा खंडजा-भावना बिष्ट
भाजपा शासन में आश्वासन तो दिया जाता है लेकिन समय से कभी कार्य नहीं होता
विकास कार्यों को लेकर ढिंढोरा पीट रही भाजपा सरकार लेकिन फिर भी विकास कार्यों के मामले में पिछड़ रहा है लोनी
 अंकित गोस्वामी  
 गाजियाबाद/लोनी। लक्ष्मी गार्डन वार्ड नम्बर 9 लगभग 1 साल से ज्यादा हो गया है। जब उत्तराखंडी समाज के लोग अपनी समस्याओं को लेकर लक्ष्मी गार्डन में ही भूख हड़ताल पर बैठे थे। लेकिन इतना समय बीतने के बाद भी आज तक वार्ड नंबर 9 में समस्या ज्यों की त्यों है। उत्तराखंड के समाज के लोगों की मुख्य समस्याओं थी, बांस की बल्लिया गाड़ कर घरों तक तार को ले जाना, तब बिजली का इस्तेमाल कर पाना था। और दूसरी समस्या थी खरंजा टूटा होने के कारण बरसात में खंरजे पर पानी भर जाना।
आपको बता दें कि अक्टूबर 2019 में बिजली के खम्बों और खंडजो को लेकर उत्तराखंड समाज के लोग इन्हीं दोनों समस्याओं को लेकर काफी शिकायत करने के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हुआ, तब लक्ष्मी गार्डन में भूख हड़ताल पर बैठ गए थे। उस समय कोई भी अधिकारी सुध लेने नहीं पहुचा था। लेकिन उस दौरान क्षेत्रीय विधायक प्रतिनिधि भूख हड़ताल पर बैठे लोगों के बीच पहुंचे और उन्होंने आश्वासन दिया कि जल्दी आपके यहां बिजली के खंभे भी लग जाएंगे और खड़ंजा भी बन जाएगा। लेकिन आज तक ना तो बिजली के खंबे लगे और ना ही खड़ंजा बना। जबकि इस विषय को लेकर आम आदमी पार्टी की नेत्री भावना बिष्ट ने कई बार क्षेत्रीय विधायक को भी अवगत कराया। इस पर आज तक अमल नहीं हुआ। वहीं, आम आदमी पार्टी जिला उपाध्यक्ष भावना बिष्ट से बात करने उन्होंने बताया कि भाजपा सरकार में विकास के दावे तो हो रहे हैं। लेकिन जमीनी स्तर पर काम नहीं हो रहा है और बाकी लोगों को काम के लिए आश्वासन तो दे दिया जाता है। लेकिन उसके बाद काम सालों साल नहीं होता। और क्या बताया जाए हमारे ही वार्ड में कुछ समय पहले हमारे ही समाज के लोग हमारे साथ भूख हड़ताल पर बैठे थे। लेकिन जनप्रतिनिधियों द्वारा हमें आश्वासन तो दे दिया गया था।लेकिन आज तक काम नहीं हुआ तो क्या समझा जाए भाजपा सरकार में कि सिर्फ दावे होते हैं लेकिन काम नहीं।

सीएम का एक्शन, जिला कलेक्टर-एसपी को हटाया

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मुरैना के कलेक्टर अनुराग वर्मा और पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजातिया को तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। इसके साथ ही एसडीओपी पर भी निलंबन की गाज गिरी है। दरअसल, यह पूरी कार्रवाई जहरीली शराब से हुई मौतों के चलते कई गई है।मुरैना जिले में जहरीली शराब से अब तक 20 लोगों की जान जा चुकी है। जानकारी के मुताबकि प्रदेश में पिछले 9 माह में जहरीली शराब से 38 लोगों की मौत हो चुकी है। लगातार हो रही घटनाओं के बावजूद सरकारी तंत्र शराब के अवैध करोबार को रोकने में अब तक नाकाम रहा।

सपा ने विधान परिषद उम्मीदवारों की घोषणा की

दीपा सिंह  
लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधान परिषद की 12 सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी ने बुधवार यानि आज दो प्रत्याशियों के नाम घोषित कर दिए। इसकी जानकारी पार्टी ने बयान जारी कर दी। पार्टी की ओर से जारी बयान के अनुसार समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश विधान परिषद के लिए अहमद हसन और राजेंद्र चौधरी को प्रत्याशी बनाया है।

आपको बता दें कि 11 जनवरी से नामांकन पत्र दाखिल करने की शुरू हुई प्रक्रिया 18 जनवरी तक चलेगी और 19 जनवरी को नामांकन पत्रों की जांच होगी। 21 जनवरी को नाम वापसी और 28 जनवरी को मतदान होगा। 28 जनवरी की शाम से ही मतगणना की भी प्रक्रिया शुरू होगी।

संपूर्ण देश में सूर्य पूजा का पर्व 'मकर सक्रांति'

मकर संक्रांति का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व !!
‘रसो वै सः’- भारतीय तत्ववेत्ताओं ने जीवन को इसी रूप में परिभाषित किया है। रस यानि आनन्द-उल्लास, उमंग-उछाह। ये अवसर जीवन में बार-बार आएं, अनवरत आएं और सदा-सदा के लिए बने रहें, इसीलिए देवसंस्कृति में पर्वों का सृजन किया गया। निर्मल आनन्द के पर्याय ये सभी पर्व लोक-जीवन को देव-जीवन की ओर उन्मुख करते हैं। परन्तु इनमें भी मकर-संक्रान्ति के साथ ये अनुभूतियां कुछ अधिक ही गहराई के साथ जुड़ी हैं। यह जन-आस्था तथा लोकरुचि का पर्व है। इसे समूची सृष्टि में जीवन अनुप्राणित करने वाले भगवान सूर्य की उपासना का पर्व भी कहते हैं। इस अवसर पर उमड़ने वाले सात्विक भव देश की सांस्कृतिक चेतना को पुष्ट करते हैं। तभी तो लोकसंस्कृति पर्व-मकर संक्रान्ति सम्पूर्ण भारत में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

मकर संक्रांति लगभग प्रतिवर्ष 14 जनवरी को ही पड़ती है। सूर्य के उत्तर से दक्षिण की ओर बढ़ते जाने की अवधि को दक्षिणायन तथा दक्षिण से उत्तर की ओर के यात्राकाल को उत्तरायण कहते हैं।
 वृत के 360 अंशों के समान ही पृथ्वी की परिक्रमापथ 360 अंशों में विभाजित है। इसके अण्डाकार परिक्रमापथ को 30-30 अंशों के समूहों में 12 राशियों में विभक्त किया गया है। पृथ्वी की परिक्रमा करते समय सूर्य जिस राशि में दिखाई देता है, वही सूर्य की राशि कही जाती है। संक्रांति बारह राशियों में सूर्य का संक्रमण है-रवेः संक्रमण राषौ संक्रान्तिरिति कथ्यते। मकर संक्रान्ति नवम् धनु राशि से दशम मकर राशि में संक्रमण है।

चन्द्रमास साढ़े उन्तीस दिन का एवं चन्द्रवर्ष 354 दिन का होता है, परन्तु सौर-दिन 30 दिन का एवं सौर वर्ष 365 दिन 6 घण्टे का होता है, चन्द्रवर्ष निश्चित नहीं होता है, उसमें परिवर्तन आता रहता है। इसी परिवर्तन के कारण चार वर्षों में फरवरी उन्तीस दिन की होती है। सूर्य का संक्रमण एक निश्चित अवधि एवं समय में सम्पन्न होता है। इसी कारण मकर-संक्रान्ति प्रायः हर वर्ष 14 जनवरी को ही आती है।

संक्रमण पर्व मकर संक्रान्ति का मकर शब्द का भी विशेष महत्व माना जाता है। इस महत्व को अलग-अलग भाषियों ने अपने-अपने ढंग से प्रतिपादित किया है। हरीति ऋषि के अनुसार, मकर मत्स्य वर्ग के जल-जन्तुओं में सर्वश्रेष्ठ है- मत्स्यानां मकरः श्रेष्ठो। इसीलिए यह गंगा का वाहन है। प्रायः सभी शास्त्रकारों ने गंगा को मकरवाहिनी माना है।

कामदेव की पताका का प्रतीक मकर है। अतएव कामदेव को मकरध्वज भी कहा जाता है। बिहारी सतसई में महाकवि बिहारी ने भगवान श्रीकृष्ण के कुण्डलों का आकार मकरकृत बताया है। मकराकृत गोपाल के कुण्डल सोहत कान। ध्स्यो मनो हिय धर समर ड्येढी लसत निसान॥

ज्योतिष गणना की बारह राशियों में से दसवीं राशि का नाम मकर है। पृथ्वी की एक अक्षांश रेखा को मकर रेखा कहते हैं। श्रीमद्भागवत के अनुसार, सुमेरु पर्वत में उत्तर में दो पर्वत में से एक का नाम मकर पर्वत है। तमिल वर्ष में ‘तई’ नामक महिला का उल्लेख है, जो सूर्य के मकर रेखा में आने के कारण उसका नामकरण हुआ !!

पुराणों में मकर संक्रान्ति का काफी विस्तार से वर्णन मिलता है। पुराणकारों ने सूर्य के दक्षिण से ऊर्ध्वमुखी होकर उत्तरस्थ होने की वेला को संक्रान्ति पर्व एवं संस्कृति पर्व के रूप में स्वीकार किया है। पौराणिक विवरण के अनुसार, उत्तरायण देवताओं का एक दिन एवं दक्षिणायन एक रात्रि मानी जाती है।

यह वैज्ञानिक सत्य है कि उत्तरायण में सूर्य का ताप शीत के प्रकोप को कम करता है। शास्त्रकारों ने भी मकर संक्रान्ति को सूर्य उपासना का विशिष्ट पर्व माना है। इस अवसर पर भगवान सूर्य की गायत्री महामंत्र के साथ पूजा-उपासना, यज्ञ-हवन का अलौकिक महत्व है। मकर संक्रान्ति पर्व के देवता सूर्य को देवों में विश्व की आत्मा कहकर अलंकृत किया गया है। आयुर्वेद के मर्मज्ञों का मानना है, शीतकालीन ठण्डी हवा शरीर में अनेक व्याधियों को उत्पन्न करती है।

इसीलिए तिल-गुड़ आदि वस्तुओं का इस अवसर पर प्रयोग करने का विशेष विधान है। चरक संहिता स्पष्ट करती है:- ’शीते शीतानिलर्स्पषसंरुद्धो बलिनां बली। रसं हिन्स्त्यतो वायुः शीतः शीते प्रयुप्यति।’ इस प्रकोप के निवारण के लिए आयुर्विज्ञान विशेष घी-तेल, तिल-गुड़, गन्ना, धूप और गर्म पानी सेवन की सलाह देते हैं।

ठंड: आग के पास बैठने से हो जाए सावधान

नई दिल्ली। कड़ाके की ठंड के बीच लोग हर वो चीज करते हैं। जिससे ठंड से बचा जा सके। गर्म कपड़ों के साथ गर्म तासीर वाली चीजें भी खाते हैं। साथ ही आग लगाकर भी ठंड से बचने की कोशिश करते हैं लेकिन ऐसा करना भारी पड़ सकता है। आग तापने के दौरान एक छोटी से लापरवाही कई लोगों के लिए खतरा बनती है। आग तापने के दौरान इन बातों का ध्यान जरूर है। सांस की बीमारी का खतरा: आग के तापने के दौरान लोग टायर, प्लास्टिक आदी को जलाते हैं। जिससे निकलने वाला धुआं सांस के जरिए आपके शरीर में पहुंचता है। जिससे खतरनाक बीमारियां आप को अपनी चपेट में ले लेती हैं।अस्थमा के मरीजों के लिए ये धुंआ जानलेवा तक साबित हो सकता है। हाथों की ऊंगलियों में सूजन: अधिक ठंड होने के चलते शरीर की तासीर भी ठंडी होने लगती है ऐसे में लोग आग के पास घंटों बैठकर आराम महसूस करते हैं। लेकिन कभी-कभी ऐसा करने से आप की हाथों की ऊंगलियां तक सूज जाती है। क्योंकि आग के पास बैठने से एक ओर आप के हाथ गर्म हो जाते हैं तो वहीं आप ठंड में होते हैं। जिससे ऊंगलियां सूजती हैं। ऐसे में आप को हाथ सेकने के बाद कुछ देर बाद हाथों के सामान्य तापमान होने तक वहीं बैठा रहना चाहिए।

खूबसूरती के लिए महिला पीती है कुत्ते का पेशाब

वाशिंगटन डीसी। दुनिया में लोग अपने आप को खूबसूरत और सेहतमंद रखने के लिए एक से बढ़ कर एक नुस्खे अपनाते रहते हैं। ज्यादातर देखा गया है कि लड़कियों अपने आप को खूबसूरत दिखाने के लिए कुछ भी करने को तैयार रहती हैं। इसी बीच एक महिला द्वारा अपनाया गया नुस्खा जान कर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल एक बेहद खूबसूरत महिला अपनी खूबसूरती को बरकरार रखने के लिए हर रोज कुत्ते का पेशाब पीती है। मिली जानकारी के अनुसार अमेरिका की लीना नाम की यह महिला कुत्ते की यूरिन पीकर अपनी खूबसूरती और स्किन के ग्लो को मेंटेन रखती है। अमेरिका की लीना नामक इस महिला का कहना है कि लोग हमेशा ही उससे उसकी चमकती-दमकती त्वचा का राज पूछते रहते है। तो उसने जब अपनी खूबसूरती का राज लोगों को बताया तो लोग सुन कर हैरान रह गए। महिला ने बताया कि वह अपने आप को खूबसूरत रहने के लिए हर रोज कुत्ते की यूरिन पीती है, जिससे उसके चेहरे पर दाग-धब्बे नहीं होते हैं और साथ ही चेहरे पर हमेशा निखार बना रहता है।

फिल्म 'धमाका' के लिए 20 करोड़ की फीस ली

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता कार्तिक आर्यन ने अपनी आने वाली फिल्म ‘धमाका’ के लिए 20 करोड़ की फीस ली है। कार्तिक आर्यन हाल ही में राम माधवानी की फिल्म ‘धमाका’ की शूटिंग पूरी की है। इस फिल्म में कार्तिक अलग लुक में नजर आने वाले हैं। जो फिल्मों में उनकी लवर बॉय की छवि को तोड़ा। बताया जा रहा है कि कार्तिक आर्यन ने इस फिल्म की शूटिंग को 10 दिनों में पूरा कर लिया, जिसके लिए उन्होंने 20 करोड़ रुपए लिए हैं। बताया जा रहा है कि शूटिंग के दौरान इस बात को ध्यान में रखा गया था कि फिल्म की शूटिंग जल्द से जल्द खत्म हो जाए। इसके लिए ज्यादातर सीन्स को इनडोर ही शूट किया गया है, लेकिन कुछ सीन ऐसे हैं जो आउटडोर शूट हुए हैं और इस फिल्म की शूटिंग को खत्म करने के लिए कार्तिक आर्यन को 14 दिन का वक्त दिया गया था। लेकिन उन्होंने इस फिल्म की शूटिंग को 10 ही दिनों में खत्म कर दिया। कार्तिक ने अपने बर्थडे पर फिल्म का मोशन पोस्टर शेयर करते हुए बताया कि फिल्म में वो एक पत्रकार का किरदार निभा रहे हैं। फिल्म में दिखाया जाएंगा कि एक टीवी चैनल के अंदर कैसे काम होता है और खास कर लाइव कवरेज के दौरान अंदर का कैसा माहौल होता है।

प्रियंका ने सीएम योगी पर फिर साधा निशाना

लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुये आरोप लगाया है कि मिशन शक्ति के प्रचार के नाम पर करोड़ों रूपये बहाने वाली सरकार के मुखिया के गृह जिले में ही महिलायें उपेक्षा का सामना करना पड़ रहा है। प्रियंका गांधी ने बुधवार को फेसबुक पोस्ट के जरिये मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुये कहा कि यूपी के मुख्यमंत्री के गृहक्षेत्र से आई खबर पढ़कर आपको अंदाजा लगेगा कि जिस सिस्टम ने अभी कुछ दिनों ही पहले महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चलाए गए ‘मिशन शक्ति’ के नाम पर झूठे प्रचार में करोड़ों रुपए बहा दिए, वो सिस्टम जमीनी स्तर पर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर इस कदर उपेक्षित रवैया अपनाए हुए है। इस खबर के अनुसार गोरखपुर में पिछले दिनों 12 से अधिक लड़कियों की मौत के मामले आए। इन अपराधों में सजा दिलाना तो दूर कुछ मामलों में पुलिस मृत लड़कियों की पहचान तक नहीं कर पाई। उन्होने लिखा कि उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ हर दिन औसतन 165 अपराध होने के मामले होते हैं। पिछले दिनों ऐसे सैंकड़ों मामले सामने आए जिनमें या तो प्रशासन ने पीड़ित पक्ष की बात नहीं सुनी या फरियादी महिला से ही बदतमीजी कर दी। क्या आप सोच सकते हैं कि जो सरकार महिला सुरक्षा के नाम पर अपनी पीठ थपथपाने के लिए करोड़ों रुपए के विज्ञापन देती हो उस सरकार के थानों में जब महिला शिकायत लेकर पहुंचती है तो थाने में उस पर भद्दी टिप्पणियां की जाती हों और उसके प्रति संवेदना करने के बजाए उसका निरादर किया जाता है। कांग्रेसी नेता ने कहा कि महिला सुरक्षा को लेकर हाथरस, उन्नाव एवं बदायूं जैसी घटनाओं में यूपी सरकार के व्यवहार को पूरे देश ने देखा। महिला सुरक्षा की बेसिक समझ है कि महिला की आवाज सर्वप्रथम है मगर यूपी सरकार ने बार-बार ठीक इसके उलट काम किया। इससे यह स्पष्ट है कि उनके लिए “बेटी बचाओ” और “मिशन शक्ति” सिर्फ खोखले नारे हैं। महिलाओं की आवाज और उनकी आपबीती को लेकर महिलाओं के प्रति सरकार को अपना व्यवहार बदलना पड़ेगा और महिलाओं के साथ संवेदनशीलता दिखानी पड़ेगी। जब कोई पीड़ित महिला या उसका परिवार आवाज उठाए और सत्ताधारी दल के लोग उस महिला व उसके परिवार पर ही भद्दी टिप्पणियां करने लगें तो इससे घृणित कोई और कार्य नहीं है। उन्होने कहा कि महिला सुरक्षा को सुनिश्चित करने की प्राथमिक शर्त है कि महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों को सामने लाना। और इसके लिए महिलाओं की आवाज को आदर से सुनना होगा।

लोहड़ी: प्यार-आस्था एवं एकता का त्योहार

हर तरफ खुशियां व उल्लास बिखरा पड़ा है। लोहड़ी का पर्व मकर संक्रांति के एक दिन पहले मनाया जाता है। हर साल 13 जनवरी को देशवासियों में विशेष उत्साह होता है, क्योंकि इस दिन लोहड़ी पर्व मनाया जाता है। यह उत्साह तब और बढ़ जाता है यदि घर में किसी की शादी या फिर बच्चे के जन्म की पहली लोहड़ी हो। इस दिन लोहड़ी पूजन की सामग्री जुटाकर शाम होते ही परिवार के सदस्यों के साथ विशेष पूजन करके आग जलाकर लोहड़ी का जश्न मनाया जाता है। पूरा परिवार अग्नि के चारों और परिक्रमा (चक्कर लगाना) लगाते हैं। इस उत्सव को उत्तर भारत के लोग जोशो-खरोश से मनाते हैं। लोहड़ी मनाने के लिए लकड़ियों की ढेरी पर सूखे उपले भी रखे जाते हैं। समूह के साथ लोहड़ी पूजन करने के बाद उसमें तिल, गुड़, रेवड़ी एवं मूंगफली, का भोग लगाया जाता है। प्रसाद में मुख्य रूप से तिल, गजक, गुड़, मूंगफली और मक्के की धानी (पॉपकार्न) बांटी जाती हैं। ढोल की थाप के साथ गिद्दा और भांगड़ा नृत्य इस अवसर पर विशेष आकर्षण का केंद्र होते हैं। इस दिन का संबंध मन्नत से भी जोड़ा गया है अर्थात्‌ जिस घर में नई बहू आई होती है या घर में संतान का जन्म हुआ होता है, तो उस परिवार की ओर से खुशी बांटते हुए लोहड़ी मनाई जाती है। सगे-संबंधी और रिश्तेदार उन्हें आज के दिन विशेष सौगात के साथ बधाइयां भी देते हैं। गोबर के उपलों की माला बनाकर मन्नत पूरी होने की खुशी में लोहड़ी के समय जलती हुई अग्नि में उन्हें भेंट किया जाता है। इसे चर्खा चढ़ाना कहते हैं। लोहड़ी एवं मकर सक्रांति एक-दूसरे से जुड़े रहने के कारण सांस्कृतिक उत्सव और धार्मिक पर्व का एक अद्भुत त्योहार है। वर्तमान में बदलते दौर में भी इस पर्व में प्यार, एकता व आस्था देखी जा सकती हैं। इस अवसर पर दु्लहा भट्टी, ‘ओए, होए, होए, बारह वर्षी खडन गया सी, खडके लेआंदा रेवड़ी…’, इस प्रकार के पंजाबी गाने लोहड़ी की खुशी में खूब गाए जाते हैं। अंत में कुल मिलाकर हम कह सकते हैं कि लोहड़ी का त्योहार जीवन में खुशहाली का संदेश लेकर आता है। नए साल का यह पहला त्योहार लोगों के दिलों को खुशियों से भर देता है। पंजाब का परंपरागत त्योहार लोहड़ी केवल फसल पकने और घर में नए मेहमान के स्वागत का पर्व ही नहीं, यह जीवन में उल्लास बिखेरने वाला उत्सव भी है। इस अवसर पर पंजाब के माझे के इलाके में पतंगे उड़ाई जाती हैं और लोग घरों की छतों पर डीजे लगाकर सारा दिन पतंगें उड़ाते हैं।

जन्मजात दुश्मनी भुलाकर एक साथ आग तापी

दुनिया में भगवान ने इंसान भले ही एक सा बनाया हो, लेकिन जानवरों की अलग-अलग प्रजातियां बनाई हैं। हर जानवर का कोई दुश्मन होता है जिससे उनकी बिल्कुल नहीं लगती। ऐसे ही दो जानवर हैं कुत्ता और बिल्ली। आपने कुत्ते और बिल्ली तो कई बार देखी होगी। लेकिन कई बार परिस्थितियां हर किसी को प्रेम और भाईचारा सिखा देती हैं। कुत्ते और बिल्ली की दोस्ती का ऐसा ही एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है जिसमें दोनों पास तो हैं लेकिन लड़ नहीं रहे। आप देख सकते हैं कि कड़कड़ाती ठंड में कैसे कुत्ते का पिल्ला और बिल्ली एकसाथ चुपाचाप तंदूर के पास बैठे हैं। दोनों गर्मी लेने के लिए तंदूर के पास बैठे थे। ये दोनों बहुत ही प्यारे लग रहे हैं। इस वीडियो को देखकर आपके चेहरे पर भी मुस्कान आ जाएगी। वीडियो को इंडियन फॉरेस्ट सर्विस के ऑफिसर सुशांत नंदा ने शेयर किया। आईएफएस ऑफिसर सुशांत नंदा ने इस 15 सेकंड के वीडियो को ट्विटर पर 8 जनवरी को शेयर किया था। वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा, ‘खुद को और हमारे दिल को गर्म करता वीडियो।’ वीडियो को लोग काफी ज्यादा पसंद कर रहे हैं औऱ शेयर कर रहे हैं।

डॉक्टर की बड़ी लापरवाही, जच्चा-बच्चा की मौत

अविनाश श्रीवास्तव 
खगड़िया। बिहार के खगड़िया जिला स्थित महेशखुंट थाना क्षेत्र में प्राइवेट क्लिनिक की लापरवाही से जच्चा और बच्चा दोनों की मौत हो गई। गर्भवती महिला संजू देवी का प्रसव के दौरान ऑपरेशन करना पड़ा। ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर ने बच्चे का सिर ही काट दिया, जिससे जहां नवजात की मौत हो गई, वहीं प्रसूता महिला की भी मौत कुछ देर में हो गई। इस घटना के बाद अस्पताल पर कार्रवाई की मांग को लेकर परिजनों ने महेशखुंट में एनएच 107 को जाम कर दिया। घटना के बाद गोगरी एसडीओ सुभाष चन्द्र मंडल और डीएसपी पीके झा समेत कई अधिकारी पहुंचे और जाम कर रहे लोगों को समझा कर प्रदर्शन समाप्त करवाया। गोगरी के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी का कहना है घटना के बाद पीड़ित के आवेदन पर क्लिनिक को सील कर उसके संचालक समेत आधा दर्जन स्टाफ पर मामला दर्ज किया जा रहा है। घटना के संबंध में बताया जाता है कि परबत्ता प्रखंड के महद्दीपुर गांव के अमित कुमार ने अपनी पत्नी संजू देवी को डिलिवरी कराने के लिए टाटा इमरजेन्सी हास्पीटल में भर्ती कराया था, लेकिन अस्पताल प्रशासन ने ऑपरेशन के दौरान बच्चे का गला ही काट दिया। उसके बाद बच्चे को बाहर निकाला गया। इसी दौरान महिला की भी तबियत बिगड़ने लगी, जिसके बाद उनकी भी मौत हो गई। जच्चा-बच्चा की मौत की खबर जैसे ही परिवारवालों को मिली सभी लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। परिवारवालों के हंगामा करते देख अस्पताल संचालक और कर्मचारी क्लीनिक छोड़कर फरार हो गये हैं।

सरकार का यू-टर्न, दागियों को मलाईदार पद

अविनाश श्रीवास्तव  
पटना। बिहार में भ्रष्टाचारी, अपराधी और ड्यूटी के प्रति लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। दरअसल नीतीश सरकार ने 6 महीना पुराने एक बड़े फैसले पर "यू टर्न" ले लिया है। अब वैसे पुलिसवालों को भी थानेदारी दी जाएगी जो भ्रष्टाचारी, अपराधी और ड्यूटी के प्रति लापरवाही बरतने वाले हैं। बिहार गृह विभाग की ओर से जारी नए आदेश के मुताबिक वैसे दारोगा या इंस्पेक्टर जिन्हें 3 या उससे अधिक वृहद सजा मिली हो उन्हें थानाध्यक्ष या सर्किल इंस्पेक्टर बनाया जा सकता है। अगर इन्हें किसी मामले में सजा मिली है और इन्होंने सजा की अवधि पूरी कर ली है तो इन्हें थानाध्यक्ष या अंचल पुलिस निरीक्षक बनाया जा सकता है। आदेश में कहा गया है कि सजा का कुप्रभाव समाप्त होने के बाद उन्हें थानाध्यक्ष अथवा अंचल पुलिस निरीक्षक के पद पर पदस्थापन हेतु योग्य माना जाएगा, बशर्ते इस कंडिका की अन्य अहर्ता उन पर लागू ना हो। जून महीने में नीतीश सरकार ने यह फैसला लिया था कि जिन्हें तीन ब्लैक मार्का मिला हो उन्हें थानाध्यक्ष और सर्किल इंस्पेक्टर नहीं बनाया जाएगा। सरकार के इस बड़े निर्णय से पहले ही पुलिस हेडक्वार्टर ने 300 थानेदारों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया था और उन्‍हें हटा दिया गया था। क्योंकि हटाए गए सभी थानेदार दागदार थे।

बिहार सरकार के उस आदेश का सबसे बड़ा असर 1994 बैच के पुलिस अधिकारी जो इंस्पेक्टर बन गए थे, उन पर हुआ था। 80 परसेंट अफसरों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई लंबित है या फिर उनके खिलाफ ब्लैक मार्क लगा था। तब बिहार के तत्कालीन डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के सख्त आदेश के बाद जुलाई से ही दागदार छवि वाले इंस्पेक्टरों और थानाध्यक्षों को हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दिए थे।

उस समय आरा, बक्सर, सासाराम में दागदार छवि वाले थानाध्यक्षों को हटा दिया गया था। सासाराम जिले में 1994 बैच वाले अफसर जो इंस्पेक्टर के रूप में  तैनात थे, वैसे 12 अफसरों को हटा दिया गया था। ये वैसे अफसर थे, जिनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई लंबित है या फिर ब्लैक मार्क लगा था। भोजपुर से भी 1994 बैच वालों का पत्ता साफ हो गया था। बता दें कि बिहार में 1075 थाने और 225 ओपी हैं। अन्‍य जिलों में इसी तरह की कार्रवाई की गई थी।


12 वर्षीय नाबालिग के साथ गैंगरेप, जिंदा जलाया

अविनाश श्रीवास्तव  
मुजफ्फरपुर। पहले चार युवकों ने 12 साल की नाबालिग लड़की के साथ गैंगरेप किया। इसके बाद पीड़िता को कमरे में बंद कर जिंदा जला दिया। यह घटना मुजफ्फरपुर के साहेबगंज की है।
पिता ने दर्ज कराया केस

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि पीड़िता अपने गांव में दादा-दादी और बड़ी बहन के साथ गांव में रहती थी। उसके पिता पंजाब में काम करते थे। इसकी जब सूचना मिली तो वह पंजाब से साहेबगंज पहुंचे और आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। परिजनों ने पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया है। इस घटना के बारे में एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि एसडीपीओ सरैया इसकी जांच कर रहे हैं। जांच रिपोर्ट अपने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी हो रही है।

बड़ी बहन ने देखा

थाने में पिता ने बताया कि 3 जनवरी को बेटी के साथ आरोपियों ने गैंगरेप किया और दिन में 10 बजे कमरे में आरोपियों ने जिंदा जलाकर मार डाला। शव को ठिकाना लगा रहे थे, लेकिन इस दौरान उनकी बड़ी बेटी ने देख लिया। उसके बाद उसने परिजनों को जानकारी दी।

वीडियो बनाकर कर रहे थे ब्लैकमेल

घटना के बारे में यह भी बताया गया है 5 दिसंबर 2019 को भी आरोपियों ने पीड़िता के साथ गैंगरेप किया था। उस दौरान वीडियो बना लिया था। उसके बाद से पीड़िता को ब्लैकमेल कर रहे थे। वीडियो वायरल करने की धमकी देकर उससे बुलाते थे। लेकिन वह नहीं जाती थी। 3 जनवरी को वीडियो वायरल करने की धमकी पर गई तो उसके साथ फिर से गैंगरेप किया और वीडियो वायरल करने के बाद मार डाला।

पीड़िता के पिता पर समझौता का दबाव

पांच जनवरी को जब पीड़िता के पिता गांव पहुंचे तो ग्रामीणों ने केस दर्ज नहीं करने का दबाव दिया और कहा कि गांव में ही बैठकर समझौता कर लिया जाए। कई दौर की गांव में पंचायत हुई, लेकिन पीड़ित के पिता को पंचायत की शर्त मंजूर नहीं थी। जिसके बाद केस दर्ज कराया। साहेबंगज के एक जनप्रतिनिधि भी समझौता कराने की कोशिश में जुटे रहे।   

कृषि बिलों की खामियां नहीं बता रहें हैं किसान

काशीपुर। गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन में शामिल हुए काशीपुर महानगर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष संदीप सहगल एडवोकेट के नेतृत्व में तमाम कांग्रेस जन गाजीपुर बॉर्डर पर किसान रैली में पहुंचे। संदीप सहगल अपने एक दिवसिये दौरे पर पहुंचे थे।इस दौरान किसानों के बीच रैली में कहा कि आज देश के अन्नदाता किसानों के ऊपर केंद्र सरकार अपनी मनमर्जी से कृषि बिल लागू तो कर दिया है। किंतु किसानों को इस बिल की तमाम त्रुटिया बताने में मोदी सरकार नाकाम साबित हो रही है, उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार किसानों के ऊपर दोहरे मापदंड अपना रही है।कोरोना महामारी से देश की जनता जूझ रही है।वहीं दूसरी तरफ इन्होंने कृषि बिल जोकि काला कानून है। गाजीपुर बॉर्डर पर हजारों किसानों के आंदोलन के दौरान उन्होंने कहा कि जो सरकार देश के किसानों के हक की आवाज को लाठी-डंडों से दबाना चाहती है उस सरकार को देश की सत्ता में बैठे रहने का कोई अधिकार नहीं आज देश का किसान सड़कों पर है जिसका कारण भाजपा के तुगलकी फरमान जोकी कृषि बिल के चलते किसान आज सड़कों पर निकलने को मजबूर हैं। उन्होंने कहा कि सरकार के नुमाइंदे बिल की खामियां नहीं बता रहे हैं।जिसका उदाहरण पिछले एक माह से ऊपर चल रहे शांतिप्रिय किसान प्रदर्शन के दौरान इस कप कपा देने वाली सर्द मौसम में किसान जो अपने खेत खलियान अपने घर छोड़कर केंद्र सरकार द्वारा लागू कृषि बिल के विरोध में सड़कों पर है। लेकिन हताश नहीं भाजपा सरकार किसानों, नागरिकों पर कितना भी जुल्म करें जवाब उसे आने वाले समय में जरूर मिलेगा। काशीपुर से गाजीपुर बॉर्डर पर जाने वाले कांग्रेसियों में चेतन अरोरा, राजू छीना ,जगजीत सिंह जीतू, मुशर्रफ हुसैन, सचिन नाडिग एडवोकेट, अनीस अंसारी ,नितिन कौशिक आदि कांग्रेस जन मौजूद रहे।

सरकार शुल्क लेगी तो हम निशुल्क लगाएंगे टीका

अकाशुं उपाध्याय  

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक बार फिर केंद्र सरकार से अपील की है कि देश भर में लोगों को कोरोना की वैक्सीन मुफ्त लगवाई जाए। दिल्ली का जिक्र करते हुए केजरीवाल ने कहा कि अगर केंद्र सरकार यहां के लोगों को मुफ्त वैक्सीन नहीं देती है तो दिल्ली सरकार अपने खर्चे पर दिल्ली की जनता को मुफ्त वैक्सीन लगवाएगी।

बता दें कि सीएम केजरीवाल हमेशा से कोरोना वैक्सीन को मुफ्त लगवाने की मांग करते आए हैं। अपनी मांग को सीएम अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को फिर दोहराया, "केंद्र सरकार से अपील की थी कि हमारा देश बहुत गरीब है और ये महामारी 100 साल में पहली बार आई है। बहुत सारे लोग हैं जो हो सकता है कि इसका खर्च न उठा पाएं। केंद्र से मेरी अपील थी कि पूरे देश भर में ये वैक्सीन मुफ्त उपलब्ध कराई जाए। हम देखते हैं कि केंद्र सरकार क्या करती है। अगर केंद्र सरकार मुफ्त वैक्सीन नहीं देती है तो जरूरत पड़ने पर हम दिल्ली के लोगों के लिए इसको मुफ्त में उपलब्ध कराएंगे।" 

हरीश रावत के नए ट्वीट ने फिर मचाई खलबली

पंकज कपूर 

देहरादून। आगामी विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों को छोड़, कांग्रेस, आंतरिक गुटबाजी और प्रदेश के शीर्ष नेताओं के प्रतिद्वंद्विता के कोल्ड वॉर से गुजर रही है। प्रदेश में कांग्रेस के भीतर उठ रहे। ज्वार भाटा का गुबार सोशल मीडिया में दिखाई दे रहा है। एक ओर हरीश रावत के समर्थक हैं तो दूसरी ओर प्रीतम और इंदिरा के समर्थक इन सबके बीच पार्टी की मर्यादा तार-तार कर अब आमने सामने का घमासान होने लगा है। इसी बीच हरीश रावत के कांग्रेस को एक होटल की चारदीवारी में कैद में रहने की बात कहने के बाद चौतरफा घमासान शुरू हुआ, जिसके बाद आज और फिर हरीश रावत ने एक ट्वीट किया है। हरीश रावत ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित होने को लेकर संकोच कैसा ?अगर किसी को भी मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित कर दिया जाए तो मैं उसके पीछे खड़ा रहूंगा. हरीश रावत ने कहा कि रणनीति के दृष्टिकोण से यह भी आवश्यक है कि हम भाजपा द्वारा राज्यों की जीत के लिए अपनाए जा रहे फार्मूले का स्थानीय तोड़ निकालें और तोड़ यही हो सकता है कि भाजपा का चेहरा बनाम कांग्रेस का चेहरा चुनाव में लोगों के सामने रखा जाए ताकि लोग स्थानीय सवालों के तुलनात्मक आधार पर निर्णय करें, हरीश रावत ने यह भी सवाल उठाया है कि आखिर अचानक सामूहिकता क्यों याद आ गई?

धरना-प्रदर्शन कोर्ट नहीं कृषि कानून के खिलाफ

सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों के लागू होने पर रोक लगा दी है. अदालत ने सरकार-किसान संगठनों के बीच विवाद निपटाने के लिए जिस कमेटी का गठन किया, उसपर भी रार छिड़ गई है. किसान संगठनों का आरोप है कि कमेटी में शामिल चारों लोग पूर्व में कानूनों का समर्थन कर चुके हैं. ऐसे में अब किसान किस प्रकार कमेटी के सामने अपनी बात रखते हैं और आंदोलन किस ओर रुख करता है। SC कमेटी के सदस्यों पर विवाद क्यों? कृषि सुधार-किसान बिल को लेकर क्या रहे हैं उनके विचार?सर्वोच्च अदालत ने केंद्र द्वारा पारित किए गए तीनों कृषि कानून के लागू होने पर रोक लगा दी है, मौजूदा MSP व्यवस्था को जारी रखने को कहा है. साथ ही एक कमेटी का गठन किया है, जिसमें चार एक्सपर्ट शामिल किए गए हैं. ये कमेटी कृषि कानून के विवाद को समझेगी और सुप्रीम कोर्ट को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

पालूराम  
नई दिल्ली। किसान नेता राकेश टिकैत की ओर से बयान दिया गया है कि उनका आंदोलन सरकार के खिलाफ है, हम कभी भी सुप्रीम कोर्ट के सामने नहीं गए। हम चाहते हैं कि कानूनों को वापस लिया जाए। सरकार को इस मामले में तुरंत संसद का सत्र बुलाना चाहिए और कानूनों को वापस लेना चाहिए। हम लगातार प्रधानमंत्री और सरकार से जवाब मांग रहे हैं।  भारतीय जनता पार्टी की सांसद और बॉलीवुड अभिनेत्री हेमा मालिनी ने धरने पर बैठे किसानों को लेकर सवाल खड़ा कर दिया है। हेमा मालिनी का कहना है कि जो किसान धरने पर बैठे हैं, उन्हें कानून में समस्या ही नहीं पता है। कमेटी पर छिड़ी रार के बीच किसानों ने अपनी लड़ाई जारी रखने की बात कह दी है। बुधवार को लोहड़ी के मौके पर किसान संगठनों द्वारा कृषि कानून की प्रतियां जलाई जाएंगी। साथ ही 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस के दिन शांति से ट्रैक्टर रैली निकालने की बात कही है। हालांकि, इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट ने भी किसानों को नोटिस थमाया है। कांग्रेस पार्टी की ओर से भी किसानों का पुरजोर समर्थन किया गया है और सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी की आलोचना की गई है। कांग्रेस ने किसानों की ट्रैक्टर रैली के समर्थन का भी ऐलान किया है।
कमेटी पर रार, कैसे बनेगी बात?
सुप्रीम कोर्ट ने बीते दिन कृषि कानून पर जारी विवाद निपटाने के लिए चार सदस्यों की कमेटी बना दी। इस कमेटी में किसान नेता भूपिंदर सिंह मान, कृषि वैज्ञानिक डॉ. प्रमोद कुमार जोशी, कृषि विशेषज्ञ डॉ. अशोक गुलाटी और महाराष्ट्र के किसान नेता अनिल घनवंत शामिल हैं। लेकिन किसान नेताओं का कहना है कि ये सभी कानून का समर्थन कर चुके हैं, ऐसे में रिपोर्ट सरकार के पक्ष में ही आएगी। सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी को अगले दस दिनों में अपनी पहली बैठक करनी होगी। बैठक के दो महीने के भीतर सुप्रीम कोर्ट को अपनी रिपोर्ट सौंपनी होगी। कमेटी हर पक्ष से बात करेगी और सीधे सर्वोच्च अदालत को ही रिपोर्ट करेगी।

बंगाली एकता मंच ने विवेकानंद की जयंती मनाई

कोलकाता। स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर अखिल भारतीय बंगाली एकता मंच के सभी कार्यकर्ताओं में निर्णय लिया कि अबकी बार स्वामी विवेकानंद जयंती स्वामी के सिद्धांतों पर चलते हुए युवाओं को देश के प्रति जागरूक करते हुए गरीब और जरूरतमंद लोगों की सेवा करते हुए मनाया जाएगा।
इसी को देखते हुए अखिल भारतीय बंगाली एकता मंच के कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश क्षेत्र के बिलासपुर के एक छोटे से गांव में स्वर्ग फार्म के गोकुल नगर क्षेत्र में आशाएं और गरीब बुजुर्गों को राशन वितरित किया।।
आश्वासन दीया आगे भी किसी भी प्रकार की आवश्यकता पड़ेगी तो अखिल भारतीय बंगाली एकता मंच के कार्यकर्ता जरूरतमंद और गरीबों के लिए हमेशा तन मन धन से मदद करने के लिए तत्पर रहेंगे।।
अखिल भारतीय बंगाली एकता मंच के अध्यक्ष सुब्रत कुमार विश्वास ने स्वामी विवेकानंद के आदर्शों को युवाओं तक पहुंचाया और युवाओं को नशे से दूर रहने की और लोगों की सेवा करने के प्रेरित किया।।
इसी उपलक्ष में गोकुल नगर क्षेत्र के प्रभारी आनंद बाला और उनके सहयोगी ने अपने अपने प्रयासों से जरूरतमंद लोगों सहयोग प्रदान की।
जहां की तरफ देश के अंदर बड़े बड़े कार्यक्रम स्वामी विवेकानंद की जयंती मनाई जा रही है। वहीं अखिल भारतीय बंगाली एकता मंच के कार्यकर्ताओं ने निर्णय लिया कि इस साल उत्तराखंड क्षेत्र में जो भी जयंती में खर्चा आता है उस पैसों को गरीबों और जरूरतमंद लोगों में सहयोग करके स्वामी विवेकानंद जयंती मनाई जाएगी।
किस उपलक्ष में उपस्थित थे। अखिल भारतीय बंगाली समाज अध्यक्ष सुब्रत कुमार विश्वास, आनंद वाला, आशु मंडल, मानिक बैरागी, दीपक मंडल , कौशल विश्वास, शुभम दास, आदि लोग उपस्थित थे।

हल्द्वानी: बच्चों के खातों में डालें जाएंगे ₹2.76 करोड़

हल्द्वानी। शिक्षा विभाग द्वारा सरकारी स्कूलों के कक्षा 1 से 8 तक जिले के 1351 स्कूलों में अध्ययनरत 46000 बच्चों के खातों में 2.76 करोड रुपए जारी किए जाएंगे। शिक्षा विभाग की ओर से हर साल कक्षा एक से आठवीं तक पढ़ने वाले छात्रों की ड्रेस खरीदने के लिए यह रकम दी जाती है। इस योजना के अनुसार प्रत्येक छात्र को दो जोड़ी ड्रेस के लिए ₹600 उनके खाते में ट्रांसफर किए जाते हैं। सर्व शिक्षा अभियान के तहत सभी अधिकारियों को पत्र लिखकर 20 जनवरी तक ड्रेस की रकम बच्चों के खाते में ट्रांसफर करने को कहा गया है। साथ ही यह भी निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी हाल में नगद में कोई भुगतान नहीं किया जाएगा। दरअसल वर्तमान में केवल दसवीं और बारहवीं को छोड़कर सभी कक्षाओं का पठन-पाठन ऑनलाइन माध्यम से ही चल रहा है।

उगाही के आरोप में दरोगा-सिपाही सस्पेंड किए

गोण्डा। उत्तर प्रदेश में गोण्डा जिले के धानेपुर थाने में तैनात दारोगा सतीश सिंह व सिपाही इंद्रेश यादव को वाहन चेकिंग के नाम पर वसूली करने के आरोप में पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पाण्डेय ने निलंबित कर दिया।

पुलिस प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि चेकिंग के दौरान वसूली करने का सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो को संज्ञान में लेते हुये पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पाण्डेय ने आरोपी पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए विभागीय जांच के आदेश दिये है। उन्होंने बताया कि शैलेश कुमार पाण्डेय ने इस मामले में सख्त रुख अख्तियार करते हुये सभी मातहतों को अवैध वसूली की शिकायतों को लेकर कड़ी चेतावनी दी हैं।

मरीजों के ठीक होने की दर 96.51फीसदी हुईं

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारत में एक दिन में कोविड-19 के 15,968 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 1,04,95,147 हो गए। इनमें से 1,01,29,111 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ही देश में मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 96.51 हुई।केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, 202 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,51,529 हो गई। आंकड़ों के अनुसार 1,01,29,111 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ही देश में मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 96.51 प्रतिशत हो गई। कोविड-19 से मृत्यु दर 1.44 प्रतिशत है। देश में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या तीन लाख से कम है। अभी 2,14,507 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 2.04 प्रतिशत है। भारत में सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख के पार चली गई थी।वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवम्बर को 90 लाख और 19 दिसम्बर को एक करोड़ के पार चले गए थे। भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार देश में 12 जनवरी तक कुल 18,34,89,114 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई। उनमें से 8,36,227 नमूनों की जांच मंगलवार को की गई।

चेतना दिवस कार्यक्रम में वर्चुअल प्रतिभाग किया

पंकज कपूर 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने स्वामी विवेकानन्द की 158 वीं जयंती के अवसर पर आयोजित युवा चेतना दिवस कार्यक्रम में वर्चुअल प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होंने प्रदेश के कई युवाओं से संवाद किया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि जल्द ही राज्य में युवा आयोग अस्तित्व में आ जायेगा। इसके लिए बजट का प्राविधान हो चुका है। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने एक ध्येय वाक्य दिया ‘‘उठो जागो और तब तक मत रूको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो ’’। विवेकानन्द जी भारतीय संस्कृति के संवाहक थे। उन्होंने पूरे विश्व को भारत की संस्कृति से अवगत कराया। भारत की संस्कृति सर्वश्रेष्ठ संस्कृति है, यहां की संस्कृति में सबको साथ लेकर चलने की ताकत है। उन्होंने भारत की शौर्य, वीरगाथाओं और वसुधैव कुटुम्बकम् की संस्कृति से दुनिया को अवगत कराया। दर्शन एवं साधक के रूप में हम विवेकानन्द जी के चरित्र को समझ सकते हैं। शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक सभी तरह की शक्ति हमारे युवाओं में होनी चाहिए, इस पर भी उन्होंने विशेष बल दिया। विवेकानन्द जी ने उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा जनपद, बागेश्वर एवं अगस्त्यमुनी के स्मरणों का वर्णन किया है। उत्तराखण्ड से स्वामी विवेकानन्द जी का विशेष लगाव था। विवेकानन्द जी का जीवन दर्शन युवाओं के लिए हमेशा प्रेरणा स्रोत रहेगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि आज प्रदेश के युवाओं के साथ जो संवाद हुआ, इसमें बहुत अच्छे सुझाव मिले। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि युवाओं द्वारा जो भी सुझाव दिये गये हैं, उनका संग्रह किया जाय। ये विचार सरकार के लिए नीतिगत निर्णय लेने में सहयोगी हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि युवा जिस भी क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं, कार्य के प्रति समर्पण का भाव हो तो उसमें सफलता अवश्य मिलती है। राज्य सरकार द्वारा स्वरोजगार पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। युवाओं को रोजगार तक ही सीमित न रहकर अपने साथ अन्य लोगों को रोजगार से जोड़ना होगा। स्वरोजगार के लिए राज्य में पर्याप्त संभावनाएं भी हैं। उत्पादों का वैल्यू एडिशन एवं प्राकृतिक संसाधनों का बेहतर इस्तेमाल कैसे हो, इस दिशा में और प्रयासों की जरूरत है। स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देना होगा। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार उपलब्ध कराने के लिए ग्रोथ सेंटर पर कार्य किया जा रहा है। ग्रोथ सेंटर आज आजीविका बढ़ाने में सहायक सिद्ध हो रहे हैं। राज्य में पर्यटन के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। यूएनओ की रिपोर्ट के अनुसार एडवेंचर टूरिज्म में रोजगार की सबसे अधिक संभावनाएं हैं। राज्य सरकार ने एडवेंचर टूरिज्म के लिए एक अलग विंग बनाई है।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र से राज्य के युवाओं ने संवाद स्थापित करते हुए अपने अनुभवों को साझा किया। सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं से युवा कैसे लाभान्वित हो रहे हैं, प्रदेश को और तेजी से प्रगति पथ पर ले जाने के लिए क्या प्रयास होने चाहिए और सरकार की योजनाओं के बारे में दूरस्थ क्षेत्रों तक लोगों को जानकारी हो इस बारे में सुझाव दिये गये।

सांसद अजय ने पीएम का आभार व्यक्त किया

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...