मंगलवार, 25 अप्रैल 2023

बाल्यान के विरुद्ध संज्ञान, तथ्यों को छुपाने की आपत्ति

बाल्यान के विरुद्ध संज्ञान, तथ्यों को छुपाने की आपत्ति


वार्ड 86 के प्रत्याशी राहत जहां के विरुद्ध संज्ञान लिया जाए, तथ्यों को छुपाया गया

सत्येंद्र पंवार 

मेरठ। वार्ड 86 की प्रत्याशी राहत जहां पत्नी इकरामुद्दीन बाल्यान के विरुद्ध संज्ञान लिया जाने हेतु तथ्यों को छुपाएं जाने की आपत्ति जताई। बहुजन मुक्ति पार्टी के राजुद्दीन गादरे ने जिला निर्वाचन कार्यालय मेरठ में आपत्ति दर्ज दाखिल की और आपत्ति में बताया गया कि वार्ड 86 से समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी राहत जहां पत्नी इकरामुद्दीन बालियान ने जो उनके विरुद्ध मुकदमे दर्ज हैं, शपथ पत्रों में उनको छिपाया गया है।

इस आधार पर फार्म निरस्त करने की मांग की राजुद्दीन गादरे ने प्रेस को बयान में कहा कि वार्ड 86 में कार्यों की अवहेलना की गई है और मुंह देखकर वार्ड में काम किया गया और जो कर्मचारी सफाई व्यवस्था हेतु नियुक्त हैं, उनमें से मात्र चार-पांच ही दिखाई देते रहे और जो काम होना था विकास कार्यों को लटकाया गया। समाजवादी पार्टी के महापौर प्रत्याशी सीमा प्रधान के निवास स्थान वार्ड से बीजेपी का पार्षद पद पर निर्विरोध चुना गया सपा महापौर के वार्ड में भी सपा को पार्षद प्रत्याशी नहीं मिला, यह सोचनीय विषय हैं !

निर्वाचन अधिकारी वार्ड 86 इकरामुद्दीन से मिलीभगत होने की भी बात कही, जबकि राहत जहां के नाम से 2 फार्म प्रस्तुत किए गए हैं। लेकिन उन दोनों में मुकदमा संख्या और अपराधिक मामलों को छिपाया गया है। इस आरोप को लेकर समाज कल्याण अधिकारी कार्यालय के पास निर्वाचन अधिकारी के यहां बहुत गहमागहमी देखने को मिली और जो लिस्ट लगनी चाहिए थी 3:00 बजे वह 7:00 बजे तक भी नहीं लगी।

यूपी बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट घोषित, नाम दर्ज किए 

यूपी बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट घोषित, नाम दर्ज किए 


मिश्कत नूर को मिला दूसरा स्थान, इंटर मे सौरभ गंगवार व अनामिका को मिला दूसरा स्थान

संदीप मिश्र 

लखनऊ। मंगलवार को यूपी बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट घोषित किया गया। जिसमें छात्र-छात्राओं ने टापर लिस्ट में अपने नाम दर्ज किए। 2023 यूपी बोर्ड की दसवीं में सीतापुर की प्रियांशी सोनी ने 10वीं में टॉप किया। प्रियांशी सोनी को 98.33 प्रतिशत अंक मिले। कानपुर देहात के कुशाग्र पांडेय ने दसवीं में दूसरा स्थान प्राप्त किया। कुशाग्र पांडेय को दसवीं में 97.83 प्रतिशत अंक मिले। 

अयोध्या की मिश्कत नूर ने भी प्रदेश में दूसरा स्थान प्राप्त किया। मिसखत नूर ने दसवीं में 97.83 प्रतिशत अंक हासिल किया। मथुरा के कृष्णा झा ने दसवीं में तीसरा स्थान प्राप्त किया। दसवीं में कृष्णा झा को 97.67 प्रतिशत अंक मिले। पीलीभीत के अर्पित गंगवार को भी दसवीं में यूपी में तीसरा स्थान मिला। पीलीभीत के अर्पित गंगवार ने दसवीं में 97.67% अंक हासिल किए। दसवीं में सुल्तानपुर की श्रेयशी सिंह को भी तीसरा स्थान मिला। श्रेयशी सिंह को दसवीं में 97.67 प्रतिशत अंक मिले।

यूपी बोर्ड इंटरमीडिएट परीक्षा परिणाम...

यूपी बोर्ड 12वीं में महोबा के शुभ चापरा ने यूपी टॉप किया। महोबा के शुभ चापरा को 12वीं में 97.80 प्रतिशत अंक प्राप्त हुए। 

12वीं में पीलीभीत के सौरभ गंगवार को दूसरा स्थान मिला। पीलीभीत के सौरभ गंगवार ने 12वीं में 97.20% अंक प्राप्त किए। 

इटावा की अनामिका को भी 12वीं परीक्षा में दूसरा स्थान मिला। 12वीं की परीक्षा में अनामिका ने 97.20 प्रतिशत अंक प्राप्त किए। 

12वीं में फतेहपुर के प्रियांशु उपाध्याय को तीसरा स्थान मिला। 12वीं में फतेहपुर के प्रियांशु उपाध्याय ने 97% अंक प्राप्त किए। 

12वीं परीक्षा में फतेहपुर की खुशी को भी तीसरा स्थान मिला। 12वीं परीक्षा में फतेहपुर की खुशी ने 97 प्रतिशत अंक प्राप्त किए। 

12वीं परीक्षा में सिद्धार्थनगर की सुप्रिया को भी तीसरा स्थान मिला। सिद्धार्थनगर की सुप्रिया को 97 प्रतिशत अंक मिले।

वार्ड 24 को आदर्श वार्ड बनाना मकसद: इकबाल

वार्ड नंबर 24 को आदर्श वार्ड बनाना मकसद: इकबाल

दीपक राना 

गाजियाबाद। नगर निकाय चुनाव के दूसरे चरण का मतदान आगामी 11 मई को होना तय है। निकायों में पार्षद और सभासद प्रत्याशी कमर कस कर मैदान में उतर गए हैं। लोनी नगर पालिका परिषद वार्ड नंबर 24 से राष्ट्रीय लोक दल प्रत्याशी इकबाल अंसारी ने वार्ड को आदर्शवाद बनाने का संकल्प लिया है।

यूनिवर्सल एक्सप्रेस की टीम को दिए साक्षात्कार में निवर्तमान सभासद एवं राष्ट्रीय लोक दल प्रत्याशी इकबाल अंसारी ने बताया कि पिछले 5 सालों में वार्ड के अंदर नाली खड़ंजा निर्माण कार्यों में 8 से ₹100000000 की लागत से विकास कार्य कराए गए। वार्ड में पेयजल की गंभीर समस्या बनी हुई थी। जिसको ध्यान में रखते हुए 4000 से अधिक पेयजल कनेक्शन बिल्कुल मुक्त कराए गए हैं। पेयजल की सुविधा प्रदान किए बिना लगाए गए जलकर की समस्या का निस्तारण कराया गया।

शिक्षा के क्षेत्र में घनी आबादी के बीच एक दसवीं तक कक्षा के विद्यालय की कमी महसूस की जा रही थी। जिसको ध्यान में रखते हुए माध्यमिक विद्यालय को दसवीं तक कराया गया। सैकड़ों खंबे लगाकर उन पर केबल वायर लगवा कर लोगों को तारों के जाल से मुक्त करने का प्रयास किया गया। वार्ड की जनता को सुविधा प्रदान करने के लिए सैकड़ों स्ट्रीट लाइट लगाई गई। वार्ड में लगभग 80 फ़ीसदी लोगों के राशन कार्ड बनाए जा चुके हैं।

महामारी के दौरान राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन में मुख्यमंत्री राहत कोष से मिलने वाली लाभांश राशि से वार्ड की जनता को जोड़कर राहत प्रदान करने का कार्य किया गया। सबसे खास बात यह है कि वार्ड में कोई सरकारी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं थी। वार्ड की जनता की समस्या को ध्यान में रखते हुए एक डिस्पेंसरी उपलब्ध कराई गई है। वार्ड की जनता को एक सामुदायिक भवन की आवश्यकता है। वार्ड में एक बड़ा तबका मजदूर गरीब लोग हैं। जो शादी के अवसर पर महंगे संसाधनों के अभाव में सड़कों पर कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। जिससे बड़ी कठिनाई का सामना करना पड़ता है। जिसके समाधान के लिए वार्ड में एक सामुदायिक भवन निर्माण का प्रस्ताव नगरपालिका को भेज दिया गया है। वार्ड की जनता ने इस बार मौका दिया तो जो भी मेरे द्वारा किए गए कार्य अधूरे हैं। उनको पूरा कराया जाएगा और वार्ड के विकास के लिए संकल्पबध वार्ड को एक आदर्श वार्ड बनाने का कार्य किया जाएगा।

लोनी: पहली बार भाजपा प्रत्याशी को मिलेगी शिकस्त

लोनी: पहली बार भाजपा प्रत्याशी को मिलेगी शिकस्त

दीपक राणा

गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी नगर पालिका परिषद लोनी में लगातार तीन योजनाओं से भाजपा प्रत्याशी को प्रचंड जीत हासिल हुई है। लेकिन इस बार पहली बार चुनाव में भाजपा प्रत्याशी को शिकस्त मिलेगी।

माना जाता रहा है कि लोनी भाजपा की रिजर्व सीट है। कुछ हद तक इस बात को नकारा भी नहीं जा सकता है और ना एक सिरे से खारिज ही किया जा सकता है। यह मिथक है या हकीकत ? इसका फैसला भी जल्द आप खुद ही करने वाले हैं। आप सभी जानते हैं कि भाजपा का कैडर वोट बैंक और दलित वर्ग मिलकर लगातार तीन योजनाएं विजय का मार्ग प्रशस्त करने में सफल होते रहे हैं। किंतु पार्टी के द्वारा चयनित प्रत्याशी का राजनीतिक इतिहास और खुद की छवि का महत्व भी कम अहमियत नहीं रखते है।

परंतु इस बार टिकट की प्रबल दावेदारी करने वाले लोग स्वयं को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। प्रत्यक्ष रूप से विरोध प्रकट करने का सामर्थ्य ना जुटा पाने के कारण अप्रत्यक्ष रूप से असंतुष्ट भाव उनके चेहरों पर साफ तौर पर देखा जा सकता है। स्पष्ट तौर पर विरोध की संभावना तो नहीं बन पा रही है। किंतु हताश मन को इतनी सरलता से काबू करना भी कोई आसान काम नहीं है। राजनीति में अक्सर ऐसा होता है कि दर्द तो बहुत तेज होता है। लेकिन कहने की इजाजत नहीं होती है।

नगर पालिका परिषद लोनी से भाजपा पार्टी ने अध्यक्ष पद पर श्रीमती पुष्पा देवी को प्रत्याशी बनाया है। लेकिन पुष्पा देवी को लोनी क्षेत्र की सक्रिय राजनीति से सीधा जुड़ा नहीं पाते हैं। नगरीय क्षेत्र की राजनीति में उन्हें किसी प्रकार का कोई वर्चस्व हासिल नहीं है और ना ही उन्हें कोई राजनीतिक चेहरा भी मानता है। नगरीय क्षेत्र की ज्यादातर आबादी उनकी राजनीतिक पृष्ठभूमि से अनजान है। माना कि भाजपा प्रत्याशी होना ही उनकी विशेषता है। वहीं, कर्मठ पदाधिकारी और अव्वल दर्जे के दावेदार इस प्रत्याशी को हजम भी नहीं कर पा रहे हैं। जिसका खामियाजा चुनाव परिणाम में भाजपा प्रत्याशी को भुगतना होगा।

दूसरी तरफ राष्ट्रीय लोक दल प्रत्याशी श्रीमती रंजीता धामा अभी तक सबसे मजबूत दावेदार के रूप में सबसे आगे खड़ी है। दूसरी तरफ बसपा का जनाधार और प्रत्याशी श्रीमती मेहरीन अली यदि दलित वोटों के ध्रुवीकरण को रोक पाने में समर्थ हो जाती है तो आमने सामने की कड़ी टक्कर में सीधे प्रवेश कर जाएगी। क्योंकि मुस्लिम वर्ग का एक धड़ा रालोद प्रत्याशी के समर्थन में खड़ा है तो एक धड़ा सपा के समर्थन में खड़ा है। जो सपा प्रत्याशी की खामोशी के बाद विकल्प तलाशने के लिए मजबूर हो गया है। सपा का कैडर वोट यदि गठबंधन की नीति के अनुरूप अनुसरण करता है तो रालोद प्रत्याशी सीधे विजय लक्ष्य को हासिल करने में सफल होगी।

राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो सपा प्रत्याशी का किरदार संदिग्ध बना हुआ है, जैसे ही सपा प्रत्याशी का रुख साफ हुआ, वैसे ही चुनावी निष्कर्ष तक पहुंच पाना  सरल हो गया है। मुस्लिम वोटों का ध्रुवीकरण भाजपा के लिए लाभकारी सिद्ध होता रहा है। मगर प्रत्याशियों के व्यक्तिगत संबंध और छवि राजनीतिक वर्चस्व को ध्यान में रखते हुए, मुस्लिम वोटों का ध्रुवीकरण नहीं हो पाएगा। पहली बार भाजपा पार्टी वोट काटने वाली पार्टी, के रूप में देखी जाएगी।

भीषण गर्मी में बेजुबान पक्षियों की सहायता

भीषण गर्मी में बेजुबान पक्षियों को बचाने के लिए सामाजिक संस्था का लगातार प्रयास जारी

जंहा भीषण गर्मी में लोगो को निकलना मुश्किल हो रहा है। वही सामाजिक संस्था के सदस्य तेज धूप मे बाहर निकल कर बेजुबान पक्षियों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। इसी के साथ दाना-पानी मुहिम के तहत पंछियों_के_सरंक्षण के लिए जीवन अर्पण सामाजिक सेवा संस्था द्वारा शहर के विभिन्न स्थानों पर दाना पानी मुहिम चलाई गई। जिसके तहत सभी स्थानों पर पानी हेतु व अनाज रखा गया। इस पहल की मुख्य विशेषता यह होती है कि पंछियों के लिए रखा गया। यह उपकरण (#बर्ड_फीडर_सकोरा) पक्षियो की भूख और प्यास मिटाने में सहायता देता है,वही संस्था के द्वारा मिट्टी के सकोरे-बर्तन शहर के विभिन्न स्थानों(मुख्य चौराहा,धार्मिक स्थल,मार्किट,थाना,सोसाइटी,अपार्टमेंट) आदि पर रखे जा रहे हैं।

इसी के साथ संस्था के सदस्य निशु उपाध्याय ने बताया की एक मानव होने के नाते हम सभी का कर्तव्य है कि हम इस भीषण गर्मी में उन्हें राहत देते हुए अपने वातावरण हेतु पक्षियों का जीवन बचा सके एवं अपनी-अपनी छत, बॉलकोनी,आस-पास के चौराहों एवं अपने मुंडेरों पर इन पंछियों के लिए दाना-पानी से भरे बर्तन या सकोरे अवस्य रखें। ताकि, ये पंछी अपनी भूख-प्यास मिटाकर खुले आसमान में उड़ते, चहचहाते हमें ऐसे ही दिखाई दे सकें।

इस मौके पर-दीपान्शु शर्मा(संस्थापक),अनमोल सहगल,निशु उपाध्याय, लोकेश सिंह,तुषार गुप्ता,मनीष राणा,सुंदर गुर्जर,हैप्पी पंडित आदि मौजूद रहे।

लक्ष्य का पीछा करने में असफल, जिम्मेदार ठहराया 

लक्ष्य का पीछा करने में असफल, जिम्मेदार ठहराया 

इकबाल अंसारी 

हैदराबाद। सनराइजर्स हैदराबाद के कोच ब्रायन लारा ने दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ अपेक्षाकृत छोटे लक्ष्य का पीछा करने में असफल रहने के लिए अपने बल्लेबाजों को जिम्मेदार ठहराया और कहा, कि उन्होंने अपना आक्रामक रवैया दिखाने में काफी देर कर दी थी। सनराइजर्स को सोमवार की रात को दिल्ली के हाथों सात रन से हार का सामना करना पड़ा, जो उसकी लगातार तीसरी पराजय है।सनराइजर्स के बल्लेबाजों ने बेहद रक्षात्मक रवैया अपनाया जिसका उन्हें खामियाजा भुगतना पड़ा। उसके सामने 145 रन का लक्ष्य था लेकिन आखिर में वह छह विकेट पर 137 रन ही बना पाया। लारा ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा,पिच में किसी तरह की गड़बड़ी नहीं थी तथा हमें पूरी पारी के दौरान अधिक सक्रियता दिखानी चाहिए थी।

उन्होंने कहा, हमने सब कुछ आखिर के लिए छोड़ दिया। मुझे अच्छा लगता अगर हमारे बल्लेबाज पावर प्ले का पूरा फायदा उठाते। हमने उन्हें बीच के ओवरों में विकेट लेने और हावी होने का मौका दिया। सनराइजर्स पावर प्ले में 36 रन ही बना पाया जबकि उसकी आधी टीम 14.1 ओवर में 85 रन पर पवेलियन लौट गई थी। लारा ने कहा, पहले 15 ओवर काफी महत्वपूर्ण होते हैं और तब तक हमें काफी बेहतर स्थिति में होना चाहिए था। सनराइजर्स को प्लेऑफ में जगह बनाने के लिए अब प्रत्येक मैच में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। लारा ने कहा, हमें अब आगे के बारे में सोचना होगा और जल्द ही एकजुट होना होगा।

इसमें कोई संदेह नहीं कि अब हमारे लिए राह मुश्किल है और हमें अधिक जिम्मेदारी से खेलना होगा। दिल्ली कैपिटल्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए नौ विकेट पर 144 रन का स्कोर बनाया था, लेकिन स्पिनर कुलदीप यादव ने कहा कि टीम को विश्वास था कि वह अपने स्कोर का बचाव करने में सफल रहेगी। कुलदीप ने कहा, शत प्रतिशत एक टीम के रूप में हमें अपनी गेंदबाजी इकाई पर पूरा भरोसा था और हमने पूरे टूर्नामेंट में अच्छी गेंदबाजी की है और यहां पर हमारे पास अपना कौशल दिखाने का मौका था।

उन्होंने कहा, हमने पावर प्ले में अच्छी गेंदबाजी की। इसके बाद बीच के ओवरों में मैंने और अक्षर पटेल ने हमें मैच में बनाए रखा जबकि अंतिम चार ओवरों में एनरिक नोर्किया और मुकेश कुमार ने अच्छी गेंदबाजी की।

सिंह को पीएम पद का 'सीरियस उम्मीदवार' बताया 

सिंह को पीएम पद का 'सीरियस उम्मीदवार' बताया 

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी/नरेश राघानी 

नई दिल्ली/श्रीनगर/जयपुर। जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को प्रधानमंत्री पद का ''सीरियस उम्मीदवार'' बताते हुए कहा कि अगर उनके भाग्य में है, तो वह प्रधानमंत्री जरूर बनेंगे। मलिक ने यह भी कहा कि उन्होंने पुलवामा आतंकी हमले का मुद्दा, इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना के दिन भी उठाया था और बाद में भी उठाते रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसी तरह किसानों का मुद्दा भी उन्होंने समय समय पर उठाया है।

उल्लेखनीय है कि मलिक ने हाल ही में एक साक्षात्कार में पुलवामा हमले के बारे में कहा था कि यह केंद्र सरकार की विफलता थी। उनके (मलिक के) इस बयान पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सवाल किया था कि जब मलिक राज्यपाल थे तब उन्होंने कुछ क्यों नहीं कहा था? सीकर के दौरे पर आए मलिक ने सोमवार को कहा ‘‘मैंने तब भी पुलवामा मुद्दे को उठाया था…. उसी दिन, अगले दिन और फिर बाद में भी कई बार उठाया था।

जब मैं राज्यपाल था तब भी मैंने किसानों का मुद्दा उठाया था... । यह कहना गलत है कि जब मैं पद से हट गया तब मैंने यह उठाया।’’ पुलवामा जिले के अवन्तीपोरा में 14 फरवरी 2019 को, जम्मू श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर भारतीय सुरक्षा कर्मियों को ले जाने वाले सीआरपीएफ के वाहनों के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था, जिसमें 40 भारतीय सुरक्षा कर्मी शहीद हो गए थे।

मलिक ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बारे में पूछने पर सोमवार को संवाददाताओं से कहा ‘‘मैं उनके बारे में कैसे टिप्पणी कर सकता हूं। वह प्रधानमंत्री पद के ‘सीरियस उम्मीदवार’ हैं और उनके भाग्य में होगा तो (प्रधानमंत्री) अवश्य बन जायेंगे।’’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अडाणी समूह से जुड़े मुद्दे पर कुछ नहीं बोला है, जिससे उन्हें नुकसान होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को पुलवामा मुद्दे पर भी बोलना चाहिए और अगर कोई जांच हुई है तो कार्रवाई होनी चाहिए। सीकर में सर्किट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत में सत्यपाल मलिक ने कहा ‘‘मौजूदा परिस्थितियां उनके (भाजपा) लिये कठिन है। उनको कुछ चीजों को करना पड़ेगा।

एक तो अडाणी वाले मामले में प्रधानमंत्री ने जवाब नहीं दिया है…. संसद में वह बोले लेकिन अडाणी वाले मामले पर कुछ नहीं कहा। उस पर अगर वह नहीं बोलेंगे तो नुकसान हो जायेगा। और पुलवामा मुद्दे पर भी उनको स्पष्टीकरण देना चाहिए। अगर कोई जांच हुई है तो कार्यवाही करनी चाहिए।’’ मलिक ने कहा कि अगर 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष प्रधानमंत्री पद के लिए उम्मीदवार खड़ा करता है तो मोदी कहीं नहीं होंगे क्योंकि जनता ही (जीत और हार का) फैसला करती है।

उन्होंने कहा कि ‘‘विपक्ष को सिर्फ इतना करना है कि एक उम्मीदवार के मुकाबले एक उम्मीदवार खड़ा कर दो…. मोदी जी कहीं नहीं होंगे... उसी में हार जायेंगे।’’ राजस्थान में इस साल के आखिर में विधानसभा चुनाव होने हैं, इस संदर्भ में मलिक ने कहा कि अगर भाजपा राज्य विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में वसुंधरा राजे को पेश करती है, तो भाजपा की जीत की संभावना अधिक होगी।

उन्होंने कहा ‘‘वसुंधरा राजे अगर उम्मीदवार हों तो भाजपा की जीत के अवसर अधिक हैं अन्यथा भाजपा के लिए कोई उम्मीद नहीं है।’’ कांग्रेस नेता राहुल गांधी को लोकसभा की सदस्यता के अयोग्य ठहराए जाने संबंधी सवाल पर मलिक ने कहा कि राहुल गांधी को सदन में बोलने और अपना पक्ष रखने का मौका दिया जाना चाहिए था। अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "मैं पार्टी के अच्छे भविष्य की कामना करता हूं, लेकिन इस राजनीति और चुनाव में, पता नहीं क्या होगा ? मौजूदा स्थिति उनके लिए कठिन है, उन्हें कुछ चीजें करनी होगी।"

500 करोड़ के धन शोधन मामलें में शिकायत दर्ज 

500 करोड़ के धन शोधन मामलें में शिकायत दर्ज 

कविता गर्ग 

मुंबई। शिवसेना (उद्धव बालासाहब ठाकरे) पार्टी के नेता संजय राउत ने भीमा पाटस सहकारी चीनी मिल में 500 करोड़ रुपये के कथित धन शोधन मामले में केन्द्रीय जांच ब्यूरों (सीबीआई) में शिकायत दर्ज कराई है। श्री राउत ने मंगलवार सुबह मीडियाकर्मियों को बताया कि महाराष्ट्र सरकार इस मामले में संज्ञान लेने में विफल रही है।

राउत ने बताया कि उन्होंने सीबीआई मुख्यालय में औपचारिक शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने कहा, “मैंने भीमा पाटस सहकारी चीनी मिल की 500 करोड़ के धन शोधन के संबंध में सीबीआई मुख्यालय में एक औपचारिक शिकायत दर्ज कराई है। चूंकि श्री देवेंद्र फडणवीस ने मेरी शिकायत को नजरअंदाज किया, इसलिए मैंने सीबीआई का दरवाजा खटखटाया है। देखते हैं आगे क्या होता है ?” 

सिसोदिया की पत्नी को अस्पताल में भर्ती कराया 

सिसोदिया की पत्नी को अस्पताल में भर्ती कराया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली के पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की पत्नी ‘ऑटोइम्यून डिसऑर्डर’ से पीड़ित हैं और उन्हें यहां एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। एक सूत्र ने कहा, "सीमा सिसोदिया एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर, मल्टीपल स्केलेरोसिस रोग से पीड़ित हैं। उनकी हालत बिगड़ गई थी और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।" सूत्रों ने कहा कि उन्हें इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

आबकारी नीति मामले में फरवरी में आम आदमी पार्टी (आप) के नेता सिसोदिया की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पंजाब के उनके समकक्ष भगवंत मान ने सिसोदिया के आवास पर उनकी पत्नी से मुलाकात कर हरसंभव मदद का आश्वासन दिया था। केजरीवाल ने कहा था कि सीमा सिसोदिया "एक बहुत ही गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं"।

उन्होंने कहा था, "यह मल्टीपल स्केलेरोसिस है, जिसमें दिमाग धीरे-धीरे शरीर पर नियंत्रण खो देता है। वह घर पर अकेली हैं। मनीष उनकी देखभाल करते थे।" केजरीवाल ने कहा था कि सिसोदिया का बेटा पढ़ाई के लिए विदेश में है। 

बेंदापुडी को ‘इमिग्रेंट अचीवमेंट अवार्ड’ दिया जाएगा

बेंदापुडी को ‘इमिग्रेंट अचीवमेंट अवार्ड’ दिया जाएगा

अकांशु उपाध्याय/अखिलेश पांडेय 

नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। पेन स्टेट यूनिवर्सिटी की भारतीय-अमेरिकी अध्यक्ष नीली बेंदापुडी को अमेरिका में उच्च शिक्षा में उनके योगदान के लिए इस साल का प्रतिष्ठित ‘इमिग्रेंट अचीवमेंट अवार्ड’ दिया जाएगा। अमेरिकी विरासत के प्रति प्रतिबद्धता और समर्पण के लिए यह पुरस्कार हर साल किसी व्यक्ति या संगठन को दिया जाता है।

एक बयान के अनुसार, बेंदापुडी (59) को 28 अप्रैल को डीसी इमिग्रेंट अचीवमेंट अवार्ड्स समारोह में यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। अमेरिकी प्रवासन परिषद के कार्यकारी निदेशक जेरेमी रॉबिंस ने कहा, ‘‘ पेन स्टेट यूनिवर्सिटी की अध्यक्ष डॉ. बेंदापुडी करीब 30 साल से उच्च शिक्षा में छात्रों की सफलता, समावेशी उत्कृष्टता को बढ़ावा देने और छात्रों, संकाय तथा कर्मचारियों के लिए अवसर उत्पन्न करने के लिए काम कर रही हैं।

’’ भारत में पली-बढ़ी बेंदापुडी कंसास विश्वविद्यालय में डॉक्टरेट की पढ़ाई करने अमेरिका आयी थीं। इसके बाद अमेरिका में ही उन्होंने अकादमिक और शिक्षण क्षेत्र में अपना करियर बनाया। वह पेन स्टेट यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष के रूप में सेवा देने वाली वाली पहली अश्वेत महिला व शख्स हैं। बेंदापुडी ने कहा कि वह इस साल ‘इमिग्रेंट अचीवमेंट अवार्ड’ मिलने को लेकर काफी सम्मानित महसूस कर रही हैं।

अलग-अलग पदों पर भर्ती में घोटाला, प्राथमिकी दर्ज 

अलग-अलग पदों पर भर्ती में घोटाला, प्राथमिकी दर्ज 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश पर पश्चिम बंगाल की विभिन्न नगर पालिकाओं में अलग-अलग पदों पर भर्ती में कथित घोटाले के मामलें में प्राथमिकी दर्ज की है। अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उच्च न्यायालय ने 21 अप्रैल को आदेश जारी किया और अगले दिन केंद्रीय जांच ब्यूरो ने प्राथमिकी दर्ज की। अधिकारियों ने कहा कि संघीय जांच एजेंसी ने अयान सिल और उनकी कंपनी एबीएस इंफोजोन प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ प्रतिभागियों के अंकों में कथित हेरफेर को लेकर मामला दर्ज किया है। इस कंपनी के पास ओएमआर शीट की छपाई और मूल्यांकन का जिम्मा था।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने राज्य में स्कूली शिक्षकों की नियुक्तियों में रिश्वत के आरोपों की जांच करते हुए पश्चिम बंगाल की नगरपालिकाओं में विभिन्न पदों पर भर्ती में कथित घोटाले की ओर इशारा किया था। उसने अपनी रिपोर्ट कलकत्ता उच्च न्यायालय को सौंपी थी जिसने उस पर संज्ञान लिया। ईडी ने दावा किया था कि स्कूल नौकरी रिश्वत घोटाला मामले में शामिल अयान सिल सहित एजेंट विभिन्न नगर पालिकाओं में लिपिक, चपरासी, सफाई कर्मचारी और वाहन चालकों की भर्ती में भी कथित रूप से शामिल थे। कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति अभिजीत गंगोपाध्याय ने नगरपालिका भर्ती घोटाला मामले की जांच सीबीआई को करने का आदेश दिया था।

उच्च न्यायालय ने सीबीआई को इस आदेश के आधार पर उठाए गए कदमों के बारे में 28 अप्रैल को एक रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया था। न्यायमूर्ति गंगोपाध्याय ने पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक और मुख्य सचिव को केंद्रीय एजेंसियों द्वारा अनुरोध किए जाने पर नगरपालिका भर्ती में कथित घोटाले की जांच में सीबीआई और ईडी की सहायता करने का निर्देश दिया था। ईडी ने कहा था कि कथित नगरपालिका भर्ती घोटाले की भारतीय दंड संहिता और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत निर्धारक एजेंसी (सीबीआई) द्वारा जांच के लिए एक अलग प्राथमिकी की आवश्यकता होगी।

बच्चों के लिए ‘विवाह में समानता’ का अधिकार मांगा 

बच्चों के लिए ‘विवाह में समानता’ का अधिकार मांगा 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। करीब 400 अभिभावकों के समूह ने देश के प्रधान न्यायाधीश डी.वाई.चंद्रचूड़ को पत्र लिखकर अपने एलजीबीटीक्यूआईए++ बच्चों के लिए ‘विवाह में समानता’ का अधिकार मांगा है। उल्लेखनीय है कि न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने के लिए दायर याचिकाओं पर सुनवाई कर रहे हैं। ‘स्वीकार- द रेनबो पैरेंट्स’ की ओर से लिखा गया पत्र इस मायने में अहम है कि प्रधान न्यायाधीश की अध्यक्षता में पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ उन याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है जिनमें समलैंगिक विवाह को मान्यता दिलाने का अनुरोध किया गया है। समूह ने पत्र में लिखा, ‘‘हमारी इच्छा है कि हमारे बच्चों और उनके जीवनसाथी के संबंधों को हमारे देश के विशेष विवाह अधिनियम के तहत मान्यता मिले।

हमें उम्मीद है कि जिस तरह से यह विशाल देश है वह उतनी ही विशालता से अपनी विविधता के स्वीकार करेगा और समावेशी मूल्यों के साथ खड़ा होगा एवं हमारे बच्चों के लिए भी वैवाहिक समानता के कानूनी द्वार को खोलेगा।’’ पत्र में कहा, ‘‘हमारी उम्र बढ़ रही है। हम में से कुछ की उम्र 80 साल के करीब पहुंच रही है, हमें उम्मीद है कि हम अपने जीवनकाल में अपने बच्चों के सतरंगी विवाह को कानूनी मान्यता मिलते देख सकेंगे।’’

गौरतलब है कि ‘स्वीकार-द रेनबो पैरेंट्स’ समूह की स्थापना भारतीय एलजीबीटीक्यूआईए++(लेस्बियन, गे, बाईसेक्सुअल, ट्रांसजेंडर, पैनसेक्सुअल, टू स्प्रीट, एसेक्सुअल और अन्य) बच्चों के माता-पिता ने की है और इसका उद्देश्य अपने बच्चों का पूरी तरह से समर्थन करना और एक परिवार की तरह खुश रहना है। पत्र में कहा गया,‘‘ हम आपसे विवाह समानता पर विचार करने की अपील करते हैं।’’ 

50 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए टीका पेश 

50 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए टीका पेश 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड (जीएसके) ने भारत में शिंगल्स (हर्पेस जोस्टर) की बीमारी और पोस्ट- हर्पेटिक न्यूरल्जिया से बचाव के लिए शिंगरिक्स (जोस्टर वैक्सीन रीकॉम्बिनेंट, एडजुवेंटेड) टीका पेश किया है। यह 50 साल और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए है। शिंगरिक्स इंजेक्शन से माध्यम से दो खुराक के रूप में मांसपेशियों में लगाई जाती है। शिंगल्स की समस्या शरीर में वेरिसेला जोस्टर वायरस (वीजेडवी) के पुन: सक्रिय होने से पैदा होती है। यह वही वायरस है जो शरीर में चिकनपॉक्स (चेचक) का कारण बनता है। 

कंपनी का दावा है कि यह टीका कम-से-कम 10 साल के लिए शिंगल्स से बचाव करेगा। भारतीयों पर किए गए एक अध्ययन में यह सामने आया है कि 40 की उम्र आने तक 90 प्रतिशत से ज्यादा लोगों के शरीर में यह वायरस उपस्थित होता है और उनमें शिंगल्स की बीमारी पनपने का खतरा रहता है। जीएसके के प्रबंध निदेशक (एमडी) भूषण अक्षिकार ने कहा, शिंगल्स की समस्या और इससे होने वाली परेशानियों से बचाने के लिए शिंगरिक्स को पेश किया गया है। अभी शिंगल्स के उपलब्ध इलाज से दर्द से पूरी तरह राहत नहीं मिल पाती है। टीकाकरण इससे बचाव का एकमात्र प्रभावी विकल्प है। शिंगरिक्स को अमेरिका के खाद्य एवं दवा प्रशासन (एफडीए) ने 2017 में मंजूरी दी थी।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-194, (वर्ष-06)

2. बुधवार, अप्रैल 26, 2023

3. शक-1944, बैशाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि-षष्ठी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:40, सूर्यास्त: 06:23। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 22 डी.सै., अधिकतम- 34+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

गर्मी में 'गुलकंद' खाने के अनेक फायदे, जानिए

गर्मी में 'गुलकंद' खाने के अनेक फायदे, जानिए  सरस्वती उपाध्याय  बेहद सुंदर और सुगंधित फूल 'गुलाब' गुणों की खान है और इसकी पं...