मंगलवार, 24 दिसंबर 2019

प्रयागराज में 3 दिन बाद इंटरनेट बहाली

प्रयागराज। तीन दिनों से बंद चल रहे इंटरनेट सेवा चौथे दिन दोपहर में चालू होने से लोगों ने राहत की सांस ली तथा तथा रुका हुआ काम दोबारा पटरी पर आने लगा 


गुरूवार को मध्य रात्रि से एन आर सी कैब को लेकर मचे बवाल को लेकर सरकार के दिशा निर्देशन में सभी सरकारी एंव प्राइवेट इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी । जिससे लोगों को बडी दिक्कतों का सामना करना पडा । सारी संचार व्यवस्था ठप पड़ जाने से सारे काम अस्त व्यस्त हो गए थे ।


सोमवार को चौथे दिन दोपहर बाद इंटरनेट सेवा बहाल होने से लोगों ने राहत की सांस ली । तथा पूर्व की भांति सभी रूके काम धीरे धीरे पटरी पर आने लगे हैं ।बता दें कि  कई कस्बो  में कैब एंव एनआरसी को लेकर किसी भी प्रकार का कोई भी जुलूस एंव धरना प्रदर्शन नहीं हुआ । ऐहतियातन अब भी क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर पुलिस बल तैनात है और बराबर गस्त करती नजर आ रही है।


रिपोर्ट डा.लालचन्द्र पटेल


लखनऊ हिंसा के पीछे पीएफआई,एक अरेस्ट

लखनऊ। 19 दिसंबर को हिंसा और आगजनी को लेकर लखनऊ पुलिस को बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। पुलिस ने हिंसा के पीछे तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। जिसमें गिरफ्तार इंदिरा नगर निवासी मास्टरमाइंड वसीम के बारे में पुलिस ने बताया तीनों लोग पीएफआई के लिए काम करते थे और लखनऊ में पिछले कई महीनों से रुक कर पीएफआई को फैला रहे थे। 


लखनऊ में 19 दिसंबर को हिंसा आगजनी तोड़फोड़ को लेकर पुलिस ने तीन मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जिसमें से एक आरोपी वसीम को लखनऊ इंदिरा नगर लखनऊ और नदीम और अशफाक को बाराबंकी से गिरफ्तार किया है। तीनों के पास से पुलिस ने भारी मात्रा में पोस्टर, बैनर पेपर जिसमें एनआरसी के विरोध को लेकर पर्चे और बाबरी मस्जिद से जुड़े कागज, राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद की उर्दू किताबें बरामद की है। एसएसपी लखनऊ का कहना है यह तीनों यूपी के और राज्यों में भी पीएफआई को फैलाने की साजिश कर रहे थे। पुलिस ने कहा कि इनसे और पूछताछ की जा रही है। आगे जो भी बातें सामने आएंगी वह मीडिया के साथ रखी जाएंगी। 


वहीं एसएसपी लखनऊ ने यह भी बताया कि मुख्य आरोपी वसीम लखनऊ में रहकर 19 तारीख की हिंसा को लेकर प्लान बना रहा था। 19 तारीख को दो और आरोपी बाराबंकी से लखनऊ आए इन तीनों ने मिलकर लखनऊ में हिंसा को अंजाम दिया। पुलिस ने जब इनके व्हाट्सएप खंगाले तो उसमें कई ऐसे ग्रुप मिले जिसमें लोग भड़काऊ भाषण लिखकर लोगों तक पहुंचा कर आगजनी के लिए उग्र कर रहे थे। पुलिस ने बताया कि इन लोगों ने योजनाबद्ध तरीके से इस घटना को अंजाम दिया और आगजनी फैलाई थी। एसएसपी लखनऊ ने बताया
19 तारीख की घटना को लेकर अब तक टोटल 39 मुकदमे दर्ज किए गए हैं, जिसमे 19 तारीख से पहले 6 मुकदमे लिखे गए थे। बाकी के 33 मुकदमे बाद में लिखे गए थे और पुलिस ने बताया कि ये तीनो पीएफआई जो सिमी संगठन का सदस्य हैं, उसके लिए काम करते थे। इन तीनो साथियों ने योजना बनाकर शांति भंग व आगजनी की और पुलिस ने बताया की सिमी से जुड़े पीएफआईसी मौलाना को भी गिरफ्तार किया जा चुका है। 


वही इस घटना में शामिल तीनों आरोपी में से वसीम अहमद प्रदेश अध्यक्ष पीएफआई है। यह लखनऊ के इंदिरा नगर का रहने वाला है नदीम और अशफाक रामनगर जनपद बाराबंकी का रहने वाला है। पुलिस ने यह कहा कि लखनऊ से रिहाई मंच के मोहम्मद शोएब को भी हम लोगों ने गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।इन लोगो ने 4 नवंबर को गांधी प्रेक्षागृह में एक मीटिंग की थी। जो बिना परमिशन के मीटिंग थी। कई लोगों को इस मीटिंग में बुलाया गया था। रिहाई मंज के मो शोएब को भी गिरफ्तार कर लिया गया था।


एसएसपी लखनऊ ने कहा कि आगे इस मामले में और भी लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा। तब आप लोग को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके उस बारे में जानकारी दे दी जाएगी। मगर बड़ा सवाल यह है कि पीएफआई जुड़े संगठन के मास्टरमाइंड 6 महीने से लखनऊ में डेरा डालकर किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे। जो उन लोगों ने 19 तारीख को अंजाम दे दिया। यदि लखनऊ पुलिस को इस बात की कानों कान खबर तक लगी इधर इस मामले में कई बड़े अफसरों की भी लापरवाही की बात सामने आई है। पुलिस की एलआईयू टीम की भी लापरवाही की बात सामने आई है। अगर पुलिस पहले ही सतर्क होकर ऐसे मास्टरमाइंड लोगों को पकड़ लेती तो शायद लखनऊ में हुई आगजनी और तोड़फोड़ का यह दंगा भड़कता ही नहीं।


वीओ-- वहीं पुलिस द्वारा पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि उन्होंने कोई भी गुनाह नहीं किया है। उन्हें पुलिस फर्जी तरह से फंसा रही है साथ ही उन्होंने बताया कि उनकी जांच करा लें।


बृजेश केसरवानी


 


प्रयागराज में नई घटी कोई घटना,सौहार्द

प्रयागराज! नागरिकता कानून को लेकर उत्तर प्रदेश के तमाम शहरो में बवाल और आगजनी हुई। लेकिन इस मामले में प्रयागराज के लोगो ने एक मिसाल कायम की है। इस शहर में विरोध हुआ जुलुस निकला लेकिन कही भी कोई ऐसी घटना नहीं हुई जिससे लोगो का जान माल का नुकसान हो।सोमवार को प्रयागराज की जनता को इस सय्यम के लिए प्रशासन और पुलिस के अफसरों ने बधाई दी है. डी आई जी के पी सिंह ने पुलिस हेड क्वाटर के लॉन में शहर के बुध्जीवी और मानिंद लोगो के साथ अफसरों की एक बैठक आयोजित की।


इस बैठक में पुलिस अफसरों में एडीजी सुजीत पांडेय ,एसएसपी सत्यार्थ पंकज अनिरुद्ध ,sp सिटी बृजेश श्रीवास्तव ,जबकि प्रशासन की तरफ से कमिश्नर आशीष गोयल ,डीएम भानु चंद्र गोस्वामी और मेयर अभिलषा गुप्ता  शामिल रही।  


सभी अफसरों ने प्रयागराज की जनता की काफी तारीफ की और कहा की ऐसे माहौल में प्रयागराज की जनता ने दुनिया को बता दिया की ये शहर वाकई में गंगा जमुनी तहज़ीब की मिसाल है! बैठक में डीएम ने ऐलान किया की जिन लोगो ने प्रशासन का सहयोग किया उनको जल्द ही सम्मान से नवाज़ा जायेगा और जिन्होंने अफवाह फैला कर लोगो को गुमराह किया उनकी गतिविधियों की जांच कराकर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी। बैठक में राजनितिक संगठनों के साथ मुस्लिम धर्मगुरु भी शामिल हुए!   


बृजेश केसरवानी


1 साल में पांच राज्यों ने भाजपा को नकारा

आदिल अहमद/ रोहित कुमार


वाराणसी! कांग्रेस लोकसभा चुनावों में हार के बाद अपनी सियासी ज़मीन की तलाश में दिखाई दे रही थी। आन्तरिक हलचल और इस हलचल पर भाजपा नेताओं के जमकर हमलावर होने के बाद भी कांग्रेस ने कही न कही अपनी रणनीति को सजोये रखा था। बीते दो लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के बेहतरीन प्रदर्शन और कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद एक तरफ पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को बड़ा रणनीतिकार साबित किया जा रहा था। वहीं दूसरी तरफ कमजोर होते विपक्ष की बात भी चल उठी थी। 2019 में जब लगातार दूसरी बार बीजेपी जीतकर आई तो राजनीति के जानकारों ने इसका श्रेय कमजोर विपक्ष को भी दिया। बीजेपी की जीत और कमजोर विपक्ष पर उठ रही उंगलियों के बीच कांग्रेस पार्टी की रणनीति पर भी सवाल खड़े होने लगे थे। ऐसे में कांग्रेस के सामने अपनी खो रही सियासी जमीन तलाशने की बड़ी चुनौती थी।


अध्यक्ष बनने के बाद ही राहुल गांधी ने संगठन को जमीनी स्तर से दोबारा खड़ा करने की कवायद शुरू की। इसका फायदा पार्टी को मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के चुनाव में भी मिला। लेकिन राहुल गांधी 2019 लोकसभा चुनाव में पार्टी को ज्यादा सीटें नहीं दिला सके।  इस चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन को देखते हुए उन्होंने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया और कई महीनों तक चली प्रक्रिया के बाद पार्टी ने एक बार फिर वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी को जिम्मेदारी सौंपी। सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष बनाया गया।


राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाने और बाद में सोनिया गांधी को पार्टी का कमान देने का साफ तौर पर असर विधानसभा चुनाव के परिणामों में दिखा। पार्टी ने 2018 और 2019 के बीच हुए विधानसभा चुनावो में  भाजपा को कुल 5 राज्यों में सत्ता से बेदखल कर दिया है।


एमपी-राजस्थान और छत्तीसगढ़ में बनाई कांग्रेस ने सरकार राहुल गांधी के पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद 2018 में मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने पहले से बेहतर प्रदर्शन किया। मध्य प्रदेश में कांग्रेस को इस चुनाव में 114 सीटें मिलीं, जो पिछले चुनाव से 56 सीटें ज्यादा थीं। वहीं राजस्थान में कांग्रेस को कुल 100 सीटें मिलीं, पिछले चुनाव में राज्य में कांग्रेस को महज 21 सीटें मिली थीं। यानी पिछले चुनाव की तुलना में यहां कांग्रेस को 79 सीटों का फायदा हुआ। उधर, छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने बीजेपी को पछाड़ते हुए राज्य में बुहमत के साथ सरकार बनाई। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने 2018 में हुए चुनाव में कुल 68 सीटें जीतीं। बता दें कि पिछले चुनाव (2013) में कांग्रेस को 39 सीटों से संतोष करना पड़ा था।


महाराष्ट्र और हरियाणा में कांग्रेस ने किया वापसी राज्यों के चुनाव में कांग्रेस का बेहतर प्रदर्शन 2019 में भी जारी रहा। पार्टी ने महाराष्ट्र और हरियाणा में पहले की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया। महाराष्ट्र में सीटों के लिहाज से तो कांग्रेस का प्रदर्शन 2014 के आसपास ही रहा, लेकिन उसकी सहयोगी एनसीपी 41 से बढ़कर 54 तक पहुंच गई। जबकि हरियाणा में तो पार्टी सरकार पिछले चुनाव से दोगुना सीटें हासिल की। खास बात यह है कि हरियाणा चुनाव में राहुल गांधी ने जहां गिनती की ही रैलियां की थी वहीं सोनिया गांधी यहां चुनाव प्रचार से पूरी तरह से दूर रहीं थी। जानकारों का मानना है कि अगर पार्टी राज्य में थोड़े समय पहले चुनावी मूड में आ जाती तो इसकी सीटों में और इजाफा हो सकता था।


झारखंड में भी हुई भाजपा की करारी हार? कांग्रेस ने झारखंड चुनाव में भी ज़बरदस्त वापसी किया और जेएमएम के साथ गठबंधन की जीत हासिल कर स्पष्ट बहुमत प्राप्त किया है। झारखंड विधानसभा की 81 सीटों के लिए मतदान की गिनती में बीजेपी को JMM-कांग्रेस गठबंधन ने ज़बरदस्त हार का स्वाद चखा दिया। गठबंधन कुल 47 सीटों को जीत कर भाजपा को मात्र 25 सीट पर सिमित कर दिया। स्पष्ट बहुमत पाई कांग्रेस गठबन्धन की सरकार के बाद भाजपा को सत्ता से उतार फेकने वाली कांग्रेस की यह एक बड़ी जीत है। भाजपा ने जहा झारखण्ड में राम मंदिर, धारा 370 और नागरिकता संशोधन कानून का कार्ड खेला था तो कांग्रेस गठबंधन ने ज़मीनी स्तर की स्थानीय समस्याओं पर चुनाव लड़ा था। और आखिर स्थानीय मुद्दे भारी पड़े और भाजपा सत्ता से बेदखल हो गई।


बेदखली भी कोई छोटी नहीं रही, खुद मुख्यमंत्री रघुबर दास अपना चुनाव हार गए और निर्दल प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़े सरयू राय ने चुनाव जीत कर भाजपा को एक और बड़ा झटका दिया है। भाजपा की तरफ से खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस राज्य में 9 रैली, अमित शाह ने 11 रैली और रघुबर दास ने कुल 51 रैलिया किया था। भाजपा ने चुनाव में पूरी ताकत झोक दिया था। वही कांग्रेस के बड़े नेताओं की इस चुनाव में रेलिया भाजपा के अनुपात में न के बराबर हुई। इसके बाद भी भाजपा की यह हार कही न कही से केंद्रीय नेतृत्व पर भी बड़ा सवाल उठा रही है।


बवाल के बीच एनपीआर को कैबिनेट की मंजूरी

नई दिल्ली! नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) पर देशभर में हो रहे बवाल के बीच मोदी कैबिनेट ने एक बड़ा फैसला लिया है! मोदी कैबिनेट ने राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) पर मुहर लगा दी है! सूत्रों के मुताबिक, यह मंजूरी राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर यानी NPR को अपडेट करने के लिए दी गई है!


मोदी कैबिनेट की यह बैठक मंगलवार को हुई! बैठक में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर अपडेट करने के लिए मंजूरी दी गई! इस काम में आने वाले खर्च का बजट भी जारी किया गया है! रजिस्टर अपडेट करने के लिए सरकार की तरफ से 8500 करोड़ रुपये से ज्यादा का बजट अप्रूव किया गया है!


यह रजिस्टर नागरिकता अधिनियम 1955 के प्रावधानों के तहत स्थानीय, उप-जिला, जिला, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर तैयार किया जाता है! कोई भी व्यक्ति जो 6 महीने या उससे अधिक समय से किसी इलाके में रह रहा हो तो उसे नागरिक रजिस्टर में जरूरी रजिस्ट्रेशन कराना होता है!


मेजर ने बनाई खास 'बुलेटप्रूफ जैकेट'

नई दिल्ली! सीमा पर जवान के लिए तमाम खतरों में से एक स्नाइपर राइफल भी होती है, जिससे निकली गोली बुलेट प्रूफ जैकेट तक को नहीं बख्शती! इस राइफल के वार से जवानों को बचाने के लिए मेजर अनूप मिश्रा ने खास बुलेट प्रूफ जैकेट तैयार की है! उनका दावा है कि यह भारतीय सेना के जवानों की युद्ध के दौरान स्नाइपर राइफल से रक्षा करेगी!


मजर अनूप मिश्रा ने बताया कि इस जैकेट को पुणे के मिलिट्री इंजीनियरिंग कॉलेज में तैयार किया गया है! उन्होंने बताया कि ये लेवल 4 बुलेट प्रूफ जैकेट हैं जो स्नाइपर राइफल से दागी गई गोलियों से सैनिकों की रक्षा करेगी! ये जैकेट पूरे शरीर के लिए कंपैटिबल है और ये क्षमता रखने वाला भारत तीसरा देश होगा!


निकाय चुनाव में किसको मिली हार-जीत

बलरामपुर। रामानुजगंज नगर पंचायत चुनाव के नतीजे सामने आ गए हैं। जो नतीजे सामने आए हैं उसके मुताबिक यहां कांग्रेस को महज 5 सीटों में ही जीत मिली है। जबकि भाजपा ने 7 वार्डों पर अपना कब्जा किया है, और 3 वार्डों पर निर्दलीयों को जीत मिली है। यहां निर्दलीय महत्वपूर्ण भूमिका में नजर आ रहे हैं। देखिये सूची…



 
1 भाजपा- उमेश सिंह गहरवार
2 कांग्रेस- किरण गुप्ता
3 कांग्रेस -अशोक गौड़
4भाजपा – ललिता देवी
5 निर्दलीय – विजय रावत
6 कांग्रेस – खुशबू देवी
7 कांग्रेस – श्वेता दास
8 कॉंग्रेस- अशोक जायसवाल
9 भाजपा – अनिता गुप्ता
10 भाजपा – रमन अग्रवाल
11 निर्दलीय -बजरंग गुप्ता
12 निर्दलीय -मुकेश जायसवाल
13 भाजपा – राजनाथ विश्वकर्मा
14 भाजपा -राजेश सोनी
15 भाजपा -उषा गुप्ता


27 को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे हेमंत

रांची! झारखंड में झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम), कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) गठबंधन को प्रचंड बहुमत मिला है! गठबंधन ने 81 में से 47 सीटें जीती हैं! इस जीत के बाद अब गठबंधन के नेता जल्द ही सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे!


सूत्रों के मुताबिक, 27 दिसंबर को हेमंत सोरेन मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे! इस दौरान जेएमएम के 6, कांग्रेस के 5 और आरजेडी के कोटे से एक मंत्री शपथ लेंगे! यानी हेमंत सोरेन के साथ 12 मंत्री शपथ लेंगे! इसके अलावा कांग्रेस के खाते में स्पीकर पद जा सकता है!


मेरठ में पर्यावरण प्रदर्शनी का आयोजन

बहराइच। 47 वी जवाहर लाल नेहरू राज्य स्तरीय विज्ञान,गणित और पर्यावरण प्रदर्शनी मेरठ जिले मे आयोजित किया गया। चार दिवसीय प्रदर्शनी में राज्य भर से शिक्षक अपने जनपदों के उपविषय पर मॉडल प्रस्तुत किया।बहराइच जनपद ने विभिन्न उप विषयों पर प्रतिभाग किया और मॉडल प्रस्तुत किया।जिसमें भावी परिवहन और संचार उपविषय के अंतर्गत लंबन विधि द्वारा आकाशीय पिण्डो का व्यास,परिधि ज्ञात करने का मॉडल प्रस्तुत किया गया जिसमें जनपद को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ।मॉडल को प्रस्तुत करने के लिए देवीपाटन मंडल से नामित पूर्व माध्यमिक विद्यालय सधुवापुर,विकासखण्ड महसी के सहायक अध्यापक डॉ आशीष श्रीवास्तव को पुरस्कार,ट्राफी व सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया।उन्होंने बताया कि मेरठ में चार दिवसीय प्रदर्शनी में जिले ने अपना परचम लहराया।प्रदर्शनी के दूसरे दिन शिक्षण अधिगम सामग्री का मूल्यांकन व आवर्त सारिणी विषय पर सेमिनार का भी आयोजन किया गया।चार दिन के सम्पूर्ण कार्यक्रम में देवीपाटन मण्डल को द्वितीय स्थान भी मिला।देवीपाटन मण्डल से अशोक पाण्डेय, राज्यवर्द्धन श्रीवास्तव, अजय कुमार मिश्रा, दया शंकर प्रजापति,डॉ कृष्ण देव द्विवेदी सहित अन्य शिक्षक प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया।


राज्य मंत्री का दखल, रेप का मामला दर्ज

उत्तरकाशी। राज्यमंत्री रेखा आर्य के हस्तक्षेप के बाद पीसीएस की तैयारी कर रही युवती से दुष्कर्म का मुकदमा उत्तरकाशी पुलिस ने दर्ज कर लिया है। आरोपी ने शादी करने का झांसा देकर कई साल तक उसका यौन शोषण किया। बाद में दूसरी शादी रचाकर पीड़िता को छोड़ दिया। आरोप है कि लखनऊ के इस युवक ने पीड़िता को डेढ़ साल तक गाजीपुर में पत्नी के रूप में रखा।


उत्तरकाशी जिले की पीड़िता ने राज्यमंत्री रेखा आर्य से मिलकर आपबीती बताई थी। पीड़िता ने बताया कि उत्तरकाशी में एनबीसीसी कंपनी में काम करने वाला अभिषेक चौहान निवासी गोमतीनगर, लखनऊ 2013 में उसके संपर्क में आया था। चौहान ने घर आकर कई बार प्रेम प्रस्ताव दिया, लेकिन वह टालती रही। 21 नवंबर 2014 को आरोपी अपने परिवार के साथ उसे जन्मदिन के बहाने एक होटल में ले गया और कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। विरोध करने पर आरोपी ने उसे शादी करने का झांसा दिया। इसी बीच 2015 में गर्भ ठहरा तो आरोपी ने दवा खिलाकर गर्भपात करा दिया। इधर, सितंबर 2017 में शादी का झांसा देकर फिर कई होटलों में उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए। वह विरोध करती तो अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर उसके मुंह को बंद करा दिया जाता। इसके बाद आरोपी एक कंपनी में नौकरी लगने की बात कहकर उसे गाजीपुर ले गया, जहां किराए पर कमरा लेकर अपने साथ रखा। पीड़िता ने आरोप लगाया कि सितंबर 2019 में अभिषेक के पिता शादी कराने की बहाने उसे उत्तरकाशी छोड़ गए। धोखे का पता चलने पर विरोध किया तो आरोपी पक्ष ने जान से मारने की धमकी दी। इसी बीच 22 नवंबर को अभिषेक के मोबाइल से एक युवती का फोन आया, जिसने अभिषेक से शादी करने की बात कही। धमकी दी कि यदि शादी में अड़ंगा लगाया तो वह उसे मरवा देगी। राज्यमंत्री रेखा आर्य ने मामले को गंभीरता से लेते हुए उत्तरकाशी के पुलिस अधीक्षक से बात की। एसपी के निर्देश पर उत्तरकाशी में पीड़ित की तहरीर पर आरोपी अभिषेक चौहान, उसके पिता और धमकी देने वाली युवती के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस का कहना है कि विवेचना में आने वाले तथ्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।


कैंसर के दर्द में लाभदायक एक्यूपंचर

चिकित्सा की वैदिक पद्धतियां एक्यूप्रेश और ऐक्यूपंक्चर कैंसर के कारण होनेवाले भीषण दर्द की तीव्रता को कम करती हैं। इतना ही नहीं दर्द को दूर कर कैंसर में ओपिओइड की जरूरत को भी कम कर सकती हैं। यह स्टडी हाल ही जामा ऑन्कॉलजी जर्नल में प्रकाशित हुई है। 


कैंसर के मरीजों में करीब 70 प्रतिशत लोग भीषण तीव्रता वाला दर्द सहन करते हैं। इसे दवाओं के जरिए 50 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। हालांकि पेन मैनेजमेंट के दौरान पता चलता है कि दर्द को कंट्रोल करने के लिए दी जानेवाली दवाओं के भी पेशंट्स के शरीर पर हानिकारक प्रभाव होते हैं। इनमें दवाओं का अडिक्शन भी शामिल है। दवाइयों के इन दुष्प्रभावों से बचने के लिए ऐक्यूप्रेशर और ऐक्यूपंक्चर जैसी पद्धतियों का उपयोग तेजी से बढ़ रहा है।
आरएमआईटी यूनिवर्सिटी, मेलबर्न और विक्टोरिया ऑस्ट्रेलिया द्वारा भी कैंसर के पेशंट्स के दर्द को कम करने के लिए ऐक्यूप्रेशर और ऐक्यूपंक्चर के प्रभाव का मूल्यांकन किया गया। इस दौरान ऐक्यूप्रेशर और ऐक्यूपंक्चर को एनलजेसिक थेरपी के साथ अप्लाई किया गया। इस दौरान सामने आया कि इनके उपयोग से मरीज को दर्द में बड़ी राहत मिलती है और उसे पेनकिल्स की लत भी नहीं लगती है।


क्रिसमस सेलिब्रेशन के लिए सारा तैयार

क्रिसमस सेलिब्रेशन के लिए सारा तैयार, शेयर की यह तस्वीर


मुंबई! बॉलिवुड की खूबसूरत ऐक्ट्रेस सारा अली खान हमेशा सुर्खियों में बनी रहती हैं। ऐक्ट्रेस कभी अपनी ऐक्टिंग को लेकर तो कभी अपने सोशल मीडिया पर ऐक्टिवनेश को लेकर चर्चा में रहती है। किसी त्यौहार का सेलिब्रेशन हो और सारा अली खान पीछे रह जाएं, ऐसा हो ही नहीं सकता है। हाल में उन्होंने क्रिसमस सेलिब्रेशन के लिए अपने घर पर क्रिसमस ट्री बनाया है। 


सारा अली खान ने अपने इंस्टाग्राम स्टोरी पर क्रिसमस ट्री की फोटो शेयर की है। इस तस्वीर में उन्होंने ट्री को बहुत अच्छी तरह से सजाया है। बैकग्राउंड में आप देख सकते हैं कि ऐक्ट्रेस की अपनी मां अमृता सिंह और भाई इब्राहिम अली खान के साथ पोज देते हुए तस्वीर टंगी हुई है। सारा अली खान ने फोटो के साथ कैप्शन लिखा, होम स्वीट होम एंड हैपी हॉलीडेज।
वर्कफ्रंट की बात करें तो सारा अली खान इस समय अपनी अपकमिंग फिल्म कुली नं. 1 की शूटिंग वरुण धवन के साथ कर रही हैं। इस फिल्म का डायरेक्शन डेविड धवन कर रहे हैं। इसके अलावा वह डायरेक्टर इम्तियाज अली की फिल्म आजकल में अपने एक्स बॉयफ्रेंड कार्तिक आर्यन के साथ नजर आएंगी।


केंद्र सरकार अब 'एनपीआर' को तैयार

केंद्र सरकार अब NPR लाने की तैयारी में


नई दिल्ली! सीएए लाने बाद अब सरकार NPR लाने की तैयारी में जुट गई है, जिसके सम्बन्ध में आज केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हो रही है, जिसमें राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (NCR) में अपडेट के लिए धन आवंटन के प्रस्ताव पर फैसला हो सकता है। एनपीआर अपडेट करने की प्रक्रिया अगले साल पहली अप्रैल से शुरू होने वाली है। 


जानकारी के अनुसार कैबिनेट की बैठक के लिए तय एजेंडे में NPR को लेकर प्रस्ताव भी शामिल है। एनपीआर में देश के 'सामान्य नागरिकों' की गणना की जाती है। एनपीआर के लिए 'सामान्य नागरिकों' से मतलब उस व्यक्ति से है, जो किसी स्थानीय क्षेत्र में पिछले छह महीने या उससे अधिक समय से रह रहा हो या अगले छह महीने या उससे अधिक समय तक उस क्षेत्र में रहने की उसकी योजना हो।


लेखपाल फिर धरने पर डटे, आर-पार

मथुरा। लेखपाल आरपार के मूड में आ गये हैं। रविवार को रही छुट्टी के बाद सोमवार को फिर सदर तहसील में आ डटे।शासन की सख्ती के बावजूद लेखपालों का रूख अडियल बना हुआ है। रविवार को छुट्टी होने के चलते लेखपालों का धरना नहीं हुआ था। आंदोलन के 14वें दिन यानी सोमवार को फिर सदर तहसील में आंदोलनों ने धारने पर आ डटे हैं। एस्मा की कार्यवी के बाद, निलंबल और नोटिस दिये जाने की प्रक्रिया जारी है बावजूद इसके लेखपाल अपनी मांगों पर डटे हुए हैं। रविवार को आंदोलन का 13 वां दिन था लेकिन छुट्टी होने की वजह से लेखपाल आंदोलन स्थल से दूर रहे। लेखपाल संघ के अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह ने बताया कि हमारी मांग जायज हैं। सरकार हमें गुमराह कर रही है। अब तो हमारे साथ अन्याय कर रही है। मांग माने जाने की बजाय निलंबन, ट्रांसफर की कार्यवाही की जा रही है। सरकार की सख्ती के आगे हम झुकने वाले नहीं हैं।


स्पष्टता का अभाव (संपादकीय)

नागरिकता संशोधन अधिनियम में स्पष्टता का अभाव है 


नागरिकता को परिभाषित करने से पहले खुद अपने रिकॉर्ड से नागरिकता सूची बनाये सरकार


आज मुझे मेरा एक मित्र मिला उसने मुझसे पूछा "नरेश भाई" जिस तरह का विवाद पूर्ण माहौल बना हुआ है । इसके चलते मैं और मेरा परिवार बहुत चिंतित है । मैंने उससे पूछा - क्यों भाई चिंता की क्या बात है ? हम सब भारतीय हैं और अपने देश से बहुत प्यार करते हैं। और रोज़ प्रधानमंत्री और ग्रहमंत्री बोल तो रहे हैं कि इस से किसी भी भारतीय नागरिक की नागरिकता पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। वह बोला कि भाई वो सब तो ठीक है लेकिन कल यदि इन लोगों ने एनआरसी रजिस्टर में मुझे एंट्री हेतु अगर 1970 के पहले का यानी कि मेरे दादा का कोई सरकारी दस्तावेज मांग लिया तो मैं कहां से लाऊंगा ? मैंने उससे कहा कि - तुम दादा का कह रहे हो मुझसे मेरे पिताजी का मांग लिया तो मैं कहां से लाऊंगा!
गृहमंत्री रोज़ बोल रहे हैं कि यह कानून केवल पड़ोसी देशों से जो हिन्दू , बौद्ध वगैरह भारत में नागरिकता लेने के इच्छुक हैं और उन देशों में पीड़ित हैं। उनको अपनाने हेतु बनाया गया है। यह सुन कर तो यही लगता है कि यह कानून  शायद सिर्फ उन्हीं लोगों पर लागू है जो भारत की नागरिकता चाहते हैं।* जिनकी संख्या भी शायद बहुत बड़ी नहीं हैं । 
यदि ऐसा है तो सरकार यह स्पष्ट क्यों नहीं कहती ? की यह एनआरसी केवल बाहर से इस देश में आने वाले पीड़ित वर्ग के लोगों पर ही लागू है ।और इसका जो भारतवर्ष में पहले से ही रह रहे हैं उन से कोई लेना-देना नहीं है। भारत देश में रह रहे लोग तो वैसे ही भारतीय हैं जिस किसी के पास उसका आधार कार्ड ,वोटर आईडी ,पासपोर्ट या कोई भी सरकारी दस्तावेज है उसे किसी भी प्रक्रिया से गुजरने की ज़रूरत नहीं है।


जिस पर वह बोला नहीं भाई ! इस एक्ट में न अब तक यह व्याख्या स्पष्ट नहीं है कि किस सरकारी दस्तावेज के अभाव इस देश में रहने वाले को भारतीय नागरिक की नागरिकता को नहीं माना जायेग।
और न ही यह स्पष्ट है कि इस प्रक्रिया से क्या सबको गुज़रना है या केवल पड़ौसी देशों से आये हुए पीड़ित हिन्दू , सिखों, बौद्ध और पारसियों को ?
मैन कहा - देखो भाई ! अगर यह केवल उन लोगों के लिए बनाया गया है जो भारत की नागरिकता चाहते हैं, और किसी अन्य देश में पीड़ित हैं वहां तक तो सही है। यह होना भी चाहिए । परंतु यदि इसमें यह भी है कि , जो पहले से ही भारत में रह रहे हैं और जिनके पास पहले ही वोटर आईडी आधार कार्ड या पासपोर्ट है , उन्हें भी अपने पूर्वजों के दस्तावेज जमा कराने होंगे तो यह बिल्कुल गैर वाजिब है।


पहले खुद अपने रिकॉर्ड से नागरिकता सूची बनाये सरकार


फिर जब नागरिकता की सूची बनाई ही जा रही है , तो सबसे पहले तो सरकार को लोगों को परेशान करने से पहले खुद अपने ही विभागों से जानकारी लेनी होगी कि उन्होंने आखिर कितने आधार कार्ड कितने पासपोर्ट कितने वोटर आईडी लोगों को बनाकर पहले ही दिए हुए हैं और जिनको यह बनाकर दिए हुए हैं, उनके नाम वैसे ही एनआरसी रजिस्टर में चढ़ा देना चाहिए । बैठकर लोगों से नागरिकता के दस्तावेज़ मांग कर  सूची दुरुस्त करने से पहले खुद सूची बनाओ तो सही !


बाकी बचे लोगों की जांच जायज़


फिर बात रहती है बाकी लोगों की। तो केवल उन पर अगर यह प्रक्रिया लागू की जाए तो बेहतर होगा। यदि आप यह कहते हैं कि हम एक धर्म विशेष को इस प्रक्रिय में उठाकर ताक में रख देना चाहते है ? तो भी इसमें कोई बड़ी बात नहीं है। क्योंकि जो इस देश का ही नही है वो क्या हिन्दू और क्या मुसलमान ? यदि उनमें से भी किसी के पास अगर पहले से ही भारत देश के वैलिड आधार कार्ड वोटर आईडी या पासपोर्ट बने हुए हैं ! तो उन्हें तो भारतीय नागरिक मानना ही पड़ेगा। ताकि वह आराम से सुरक्षित महसूस कर सकें।


शांति कैसे स्थापित हो ?


यदि सरकार वाकई चाहती है कि यह देश भर में लगी आग शांत हो जाये तो पहले तो स्पष्ट बात कहनी होगी। और जीएसटी की तर्ज पर बिना सोचे समझे और पूरी तैयारी के  पास किये गए इस एक्ट में , स्पष्टता और एडजस्टमेंट लाना होगा । जब किसी को यह मालूम होगा कि उसकी जेब में पड़ा आधार कार्ड या वोटर आईडी कार्ड अथवा पासपोर्ट पर्याप्त है एनआरसी की लिस्ट में शामिल होने के लिए , तो क्यों विरोध करेगा ? और क्यूँ सड़कों पर आकर पत्थर हाथ में उठाएगा ? वह अपना काम करेगा क्यों झंझट में पड़ेगा ? सरकार को चाहिए कि वह पूरी तरह से स्पष्ट शब्दों में कह दे कि हम किन दस्तावेजों के अभाव में नागरिकता पर प्रश्न चिन्ह लगायेंगें ? और ये सब केवल नई नागरिकता चाहने वालों के लिए है या सभी के लिए ?


जनसंख्या नियंत्रण कानून अभी आना बाकी है


एक बड़ी वरिष्ठ भाजपा नेता से बात करने पर ज्ञात हुआ कि सरकार बहुत जल्द जनसंख्या नियंत्रण पर भी एक कानून लाने वाली है । जिसके चलते किसी भी भारतीय नागरिक को दो से ज्यादा बच्चे पैदा करने पर सरकारी सुविधाएं मिलना बंद हो जाएंगी। यहां पर दूसरे शब्दों में यह कई है कि इस आदेश की सख्ती से पालना करनी होगी कि बच्चे सिर्फ दो ही पैदा करने हैं । अब सवाल यह है कि एक तरफ तो जनसंख्या नियंत्रण हेतु हम कानून लाना चाहते हैं ताकि देश के हर नागरिक तक सुविधाएं पहुंचा सके। दूसरी तरफ हम खुद बाहरी पीड़ित नागरिकों को खुद नागरिकता देने हेतु कानून बना रहे हैं। यह हल्का सा विरोधाभास नहीं है तो और क्या है ?


नारी सम्मान की रक्षा हेतु एक से ज्यादा विवाह नहीं कर पाएंगे भारतीय नागरिक


उस नेता ने मुझसे यह भी कहा की आने वाले समय में महिलाओं की सम्मान की रक्षा के लिए किसी भी भारतीय नागरिक को केवल एक बार विवाह करने की ही अनुमति होगी और पहली पत्नी के जिंदा रहते दो पत्नियां रखना गैरकानूनी माना जाएगा । चाहे वह नागरिक किसी भी धर्म से क्यूँ न हो। मैंने उससे पूछा कहीं आप इस तरह का कानून लाकर किसी धर्म विशेष को तो टारगेट नहीं कर रहे हैं ? जिस पर उसने कहा कि नहीं यह पूर्णतया इंसानियत के दायरे के तहत सोच समझकर महिला सम्मान की दिशा में  एक महत्वपूर्ण कदम है। जहाँ तक जनसंख्या नियंत्रण की बात है, इस बात में वाकई बहुत दम है किस देश को बहुत जरूरत है अपनी जनसंख्या को नियंत्रण में रखने की। क्योंकि *हमारे पास खाने वाले मूँह इतने बढ़ चुके हैं लेकिन इतने कमाने वाले हाथ नहीं है। नौकरियाँ नहीं है । रोज़गार नहीं है। अब जहाँ धर्म सम्प्रदाय का संघर्ष तो सदियों से इस देश में  अपनी जगह चल ही रहा है और चलता ही रहेगा । परंतु  इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है कि आर्थिक आज़ादी की जंग भी लड़ी जाए। ताकि सबको दो वक्त की रोटी और छत आसानी से मिल सके।


जय श्री कृष्ण


नरेश राघानी


मृत व्यक्ति का सिर ट्रांसप्लांट करने का दवा

नई दिल्ली। आपने अभी तक सिर्फ ऑर्गन ट्रांसप्लांट (Organ transplant) करने की ही बात सुनी होगी, लेकिन जिस बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं वह जान कर आप भी हैरान रह जाएंगे। दरअसल, डॉक्टर्स का दावा है कि बाकी ऑर्गन्स की तरह अब एक मृत व्यक्ति को दूसरे का सिर लगाया जा सकता है, इससे मृत शरीर को भी जिंदा किया जा सकता है।


बता दें कि ब्रिटेन की हल यूनिवर्सिटी टीचिंग हॉस्पिटल्स (University Teaching Hospitals) के पूर्व क्लिनिकल प्रमुख डॉ. ब्रूस मैथ्यू का दावा है कि अगले 10 साल में हेड ट्रांसप्लांट (Head transplant) संभव हो सकता है। रोबोटिक्स, स्टेम सेल ट्रांसप्लांट्स और नर्व सर्जरी में टेक्नोलॉजी एडवांस होने की वजह से यह संभव हो सकता है। अगर ऐसा संभव हो पाता है तो जिन लोगों के शरीर के कई अंग खराब हो चुके हैं या जिनके हाथ या पैर कट गए हैं, उन्हें फायदा हो सकता है। इससे मर चुके लोगों को भी जिंदगी मिल सकती है।


8 करोड़ का कुत्ता चोरी,1 लाख का इनाम

नई दिल्ली। आमतौर पर हम सभी के घरों में पालतू कुत्ते (Pet Dog) होते हैं लेकिन आपने 8 करोड़ के कुत्त्ते के बारे में नहीं सुना होगा। इसी तरह के एक मामले के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। जब एक शख्स ने दावा किया कि उसका 8 करोड़ का कुत्ता गायब हुआ है। इस कुत्ते को खोजने के लिए शख्स ने 1 लाख का इनाम भी रखा है।


दरअसल, बेंगलुरु (Bengluru) के एक शख्स ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि 'अलास्कन मैलेम्यूट' प्रजाति का उसका 3-वर्षीय कुत्ता 'सैमसंग' चोरी हो गया है जिसकी कीमत तकरीबन 8 करोड़ है। उसका कुत्ता ढूंढने वाले को उसने इनाम में 1 लाख देने की पेशकश की है। शख्स ने दो साल पहले चीन से इस कुत्ते को मंगवाया था।


नौवीं की छात्रा से नाबालिगों ने किया गैंगरेप

सीधी! मध्यप्रदेश के सीधी जिले में एक बेहद शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। यहां चार नाबालिग लड़कों ने 9वीं कक्षा की नाबालिग छात्रा से गैंगरेप किया। इतना ही नहीं छात्रा का अश्लील वीडियो भी बना लिया। बताया जा रहा है कि घटना एक सप्ताह पहले की है। छात्रा ने वीडियो वायरल होने के डर से किसी को कुछ नहीं बताया लेकिन रविवार को हिम्मत जुटा कर अपनी मां के साथ थाना पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई। जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।


पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार, एक सप्ताह पहले छात्रा अपनी छोटी बहन और एक सहेली के साथ बाजार गई थी। लेकिन मां का फोन आने पर सहेली व उसकी छोटी बहन घर लौट आई। छात्रा अकेले ही बाजार में खरीददारी करती रही। उसके बाद जब वह बाजार से घर जा रही थी तो रास्ते में दो लड़कों ने उसका पीछा किया और एक सुनसान झोपड़ी में ले जाकर उसके साथ रेप किया। इस दौरान तीन अन्य लड़कों ने भी छात्रा के साथ दुष्कर्म किया और उसका वीडियो बना लिया और कहा कि यदि किसी को बताया तो विडियो वायरल कर देंगे।


घटना के बाद छात्रा ने डर के मारे किसी को कुछ नहीं बताया। जब 4-5 दिन बाद अपनी मां को घटना की जानकारी दी तो उसके बाद रविवार को मां छात्रा को लेकर थाने पहुंची और मामले की शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने तुरंत एफआईआर दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।


फ्लोराइड युक्त पानी, पीने को विवश

रजनीकान्त अवस्थी
शिवगढ़/रायबरेेल! रानी खेड़ा ग्राम पंचायत के कृष्णपाल खेड़ा, जोरावर खेड़ा सहित गांव के लोग फ्लोराइड युक्त दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। फ्लोराइड युक्त दूषित पानी पीकर ग्रामीण विभिन्न प्रकार की संक्रामक बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। सबसे बड़ी विडंबना है कि, ग्राम प्रधान शारदा देवी ने रानीखेड़ा ग्राम पंचायत के कृष्णपाल खेड़ा जोरावर खेड़ा सहित गांवों के ग्रामीणों को फ्लोराइड युक्त पानी की समस्या से निजात दिलाने के लिए दर्जनों बार संबंधित अधिकारियों व जिलाधिकारी एवं मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजें किंतु नतीजा शून्य रहा। 
     आपको बता दें कि, कृष्णपाल खेड़ा गांव की रहने वाली शांति का कहना है कि, पानी इतना खारी एवं फ्लोराइड युक्त है कि महज कुछ घंटों के लिए बर्तन में पानी भरकर रख देने से पूरा बर्तन लाल हो जाता है। जब फ्लोराइड युक्त पानी बर्तनों पर इतना गहरा दुष्प्रभाव डाल रहा है तो मनुष्य एवं पशुओं के स्वास्थ्य पर इसका कितना दुष्प्रभाव पड़ता होगा, इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है।
      प्रधान प्रतिनिधि रामखेलावन उर्फ खिलाड़ी ने बताया कि कई जगह शिकायत करने के बाद एक बार जांच भी आई थी जो पानी के सैंपल लेकर चले गए और दोबारा आज तक दिखाई नहीं पड़े। यदि सौर ऊर्जा संचालित पानी की टंकी का निर्माण करा दिया जाए तो रानी खेड़ा ग्राम पंचायत के कृष्णपाल खेड़ा, जोरावर खेड़ा सहित गांव को पेयजल संकट की समस्या से निजात मिल जाएगी।


सीबीएसई ने सीटीईटी आंसर की जारी की

नई दिल्ली! केंद्रीय माध्यमिक शिक्षक बोर्ड (सीबीएसई) ने सोमवार को केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटीईटी) की उत्तर कुंजी (आंसर की ) जारी कर दी है।


केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा की आसंर की देखने के लिए उम्मीदवार सीटेट की वेबसाइट ctet.nic.in देख सकते हैं। 25 दिसंबर तक आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। आंसर की वेबसाइट पर 25 दिसंबर तक उपलब्ध रहेगी। उम्मीदवार 1000 रुपए प्रति प्रश्न का भुगतान कर आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। उम्मीदवार रोल नंबर और डेट ऑफ बर्थ सब्मिट करके आंसर की डाउनलोड कर सकते हैं। आपको बता दें कि परीक्षा में 29 लाख से ज्यादा उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया था।


सीटीईटी की परीक्षा का आयोजन 8 दिसंबर को किया गया था। सीटीईटी परीक्षा में अंग्रेजी और गणित के सवालों ने उम्मीदवारों को खासा परेशान किया है। आपको बता दें कि सीटीईटी की परीक्षा की आंसर की के साथ बोर्ड ओएमआर शीट भी जारी की गई है।


यह परीक्षा देश के 110 शहरों में 20 भाषाओं में आयोजित हुई। सीबीएसई हर साल दो बार सीटीईटी परीक्षा आयोजित करता है। पहली परीक्षा जुलाई और दूसरी दिसंबर के महीने में आयोजित की जाती है। सीटीईटी परीक्षा का मुख्य उद्देश्य सराकरी विद्यालयों में गुणवत्ता वाले तथा कुशल शिक्षकों की भर्ती करवाना होता है।


पीएम करेंगे 'अटल' प्रतिमा का अनावरण

पीएम मोदी 25 को लखनऊ में, अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा का करेंगे अनावरण


लखनऊ! पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की लोक भवन में लगाई गई प्रतिमा के अनावरण के लिए आ रहे! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 दिसंबर को राजधानी में करीब ढाई घंटे रहेंगे। पीएमओ से उनका संभावित कार्यक्रम प्रशासन को मिल गया है। प्रधानमंत्री दोपहर ढाई बजे पहुचेंगे और पांच बजे के करीब दिल्ली प्रस्थान करेंगे। प्रधानमंत्री के आगमन को लेकर पूरे शहर में सुरक्षा और कड़ी की जा रही है। पुलिस और एसपीजी की टीम ने एयरपोर्ट से लेकर लामार्ट तक एरियल सर्वे किया। प्रधानमंत्री एयरपोर्ट से लोक भवन के लिए पहले चॉपर से लामार्ट कॉलेज पर बने हेलीपैड पर उतरेंगे। इसके बाद वह सड़क मार्ग से लोक भवन जाएंगे।प्रशासनिक अधिकारियों के मुताबिक प्रधानमंत्री प्रतिमा के अनावरण के अलावा अटल बिहारी चिकित्सा विवि का शिलान्यास भी करेंगे। दोनो ही कार्यक्रम लोक भवन में होंगे। लोक भवन से ही प्रधानमंत्री एयरपोर्ट के लिए रवाना होंगे। उधर पीएम को लेकर शहर में क्रिसमस के दिन यातायात और सुरक्षा संबंधी तमाम जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। आम लोगों को प्रधानमंत्री के कार्यक्रम से दिक्कत न हो इसका खास ध्यान रखा जा रहा है। चूंकि क्रिसमस पर अधिकांश बड़े कार्यक्रम हजरतगंज में होते हैं, इसलिए पुलिस के सामने दिन में तगड़ी चुनौती होगी।


इंटरमीडिएट तक के सभी स्कूल 4 तक रहेंगे बंद

विमलेश अग्रहरि


मिर्जापुर। जिलाधिकारी  सुशील कुमार पटेल बढ़ते शीतलहर, ठंड एवं मंगलवार को प्रातः काल से ही कोहरे के प्रकोप को देखते हुए जनपद के यूपी, सीबीएसई, आईसीएसई सहित कक्षा 1 से लेकर इंटरमीडिएट तक एवं टेक्निकल कॉलेजों को 4 जनवरी तक बंद रखने का निर्देश मंगलवार को सुबह निर्गत कर दिया है। बता दें कि जनपद में कड़ाके की ठंड पड़ रही है जनपद के जिला अधिकारी ठंड को लेकर काफी संजीदा है और नन्हे मुन्ने बच्चों को स्कूली बच्चों को किसी प्रकार की कोई दिक्कत ना हो इसलिए समय से पूर्व ही छुट्टी की सूचना जारी कर दिए हैं। बेटी से पहले लगातार शीतकालीन अवकाश रहा। हालांकि मंगलवार को जिन लोगों को सूचना समय से नहीं मिल पाई वह स्कूल पहुंच गए यहां तक कि नगर के प्राइवेट स्कूलों में भी 24 दिसंबर को को क्रिसमस मनाने की व्यवस्था की गई थी, बहुतेरे बच्चे रोमन के अध्याय अभिभावक स्कूलों में पहुंचे म्हारा क्रिसमस का पर्व 24 जनवरी को शहर के तमाम स्कूलों में मनाया भी गया।


12वीं तक के स्कूलों की 26 तक छुट्टी

आदर्श श्रीवास्तव


शाहजहांपुर। डीएम इंद्रविक्रम सिंह ने नर्सरी से लेकर कक्षा 12 के छात्र-छात्राओं के स्कूलों में 24 दिसंबर तक छुटटी कर दी है। 25 दिसंबर को क्रिसमस की छुटटी है ही, इसलिए अब स्कूल 26 दिसंबर को खुलेंगे। डीएम के निर्देश पर कक्षा 12 तक के सभी स्कूलों में 24 दिसम्बर तक की छुट्टी घोषित कर दी है।


रविवार देर रात जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह ने शीतलहर का प्रकोप के मद्देनजर जनपद के सभी बोर्डों के कक्षा एक से लेकर इंटर तक के संचालित स्कूलों में अवकाश घोषित किया है। उन्होंने बताया कि 23 व 24 को अवकाश रहेगा।
शाहजहांपुर में सोमवार को मौसम बहुत सर्द रहा। अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 7 डिग्री रहा। रविवार को तो धूप खिली थी, इसलिए मौसम विज्ञानियों का मानना था कि सोमवार को कोहरा पड़ेगा, लेकिन तेज हवा चलते कोहरा नहीं हुआ।


किसान दिवस पर डीएम-सांसद ने सुनी समस्या

जालौन में महिला किसान दिवस कार्यक्रम में पहुंचे डीएम एंव सांसद ने दी जानकारियां


जालौन! कौंच के एसआरपी इंटर कॉलेज में आज महिला किसान दिवस पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया! आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तत्वाधान में महिला किसान दिवस पर कार्यक्रम आयोजित हुआ और इस कार्यक्रम में हजारों की तादाद में महिलाएं एकत्रित थी! महिलाओं के समूह ने अलग-अलग प्रदर्शनी लगाकर अपने-अपने कार्यो का बखान किया और कई ब्लॉकों से हजारों की तादाद में महिलाएं सभी एकत्रित हुई और अपनी अपनी बातें अधिकारियों के समक्ष रखी! महिला किसान दिवस पर महिला किसान के महत्व को बताते हुए जानकारियां दी गई! कार्यक्रम में पहुंचे जिलाधिकारी जालौन डॉक्टर मन्नान अख्तर एवं सांसद जालौन भानु प्रताप वर्मा और विधायक मूलचंद निरंजन सहित जिले के तमाम जिम्मेदार अधिकारी और नेता मौजूद रहे महिला किसान सशक्तिकरण योजना के उद्देश्यों के बारे में बताया गया साथ ही महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना विकासखंड के समस्त महिला किसानों जो सतत एवं व्यापक कृषि पद्धतियों का उपयोग कर कृषि में संलग्न है उनको जानकारियां दी गई ।


रिपोर्ट- ब्यूरो चीफ राजकुमार दोहरे


किस राशि पर पड़ेगा शनि का असर?

ज्योतिष शास्त्र में शनि देव (Shani Dev in Astrology) सभी ग्रहों में तेजस्वी होने के साथ न्यायाधीश  कहा जाता है। शनि अच्छे कर्म करने वालों के अच्छा फल और बुरे काम करने वालों को दंड देते हैं। शनिदेव सूर्य देव और माता छाया के पुत्र (Son of Shani Dev, Sun God and Mata Chhaya) हैं। शनिवार का दिन शनिदेव का होता है। इस दिन भगवान शनि को तेल का दान किया जाता है। साल 2020 में शनि की साढ़ेसाती का असर!


इस साल शनि ग्रह 24 जनवरी को धनु राशि से अपनी स्वराशि मकर में गोचर करेंगे। इसके साथ ही इसी वर्ष 11 मई से 29 सितंबर तक यह मकर राशि में ही वक्री होगा और 27 दिसंबर को अस्त। धनु और मकर राशि में पहले ही शनि साढ़े साती का प्रभाव चल रहा था। कुंभ राशि के लिए भी साढ़े साती का पहला चरण शुरू हो जाएगा।  इस समय वृश्चिक, धनु और मकर राशि पर शनि की साढ़ेसाती है। वृष और कन्या राशि पर ढय्या है।


यहां जानिए राशिनुसार शनि का प्रभाव..


मेष:साल 2020 में मेष राशि के जातकों पर शनि की साढ़े साती का प्रभाव नहीं रहेगा।


वृष:वृष राशि के जातकों का साल 2020 में शनि की साढ़े साती से दूर-दूर का कोई भी नाता नहीं है।


मिथुन:मिथुन राशि के जातकों की कुंडली में शनि की साढ़े साती को कोई प्रभाव देखने को मिलेगा।


कर्क:वर्ष 2020 में आप पर शनि की साढ़ेसाती का असर नहीं रहेगा।


सिंह:साल 2020 में सिंह राशि के जातकों पर शनि का प्रकोप नहीं रहेगा।


कन्या:वर्ष 2020 में कन्या राशि के लोगों पर शनि की साढ़ेसाती का असर नहीं होगा।


तुला:इस वर्ष शनि की साढ़े साती का असर तुला राशि के जातकों पर नहीं पड़ेगा।


वृश्चिक:साल 2020 में वृश्चिक राशि के जातकों की कुंडली पर शनि की साढ़े साती नहीं है।


धनु:इस वर्ष धनु राशि के जातकों पर शनि की साढ़े साती का प्रभाव रहेगा। शनि की साढ़े साती आपके अंतिम चरण में है। जाते शनि आपको कर सकते हैं मालामाल।


मकर:शनि का गोचर आपकी राशि में ही हो रहा है। इसलिए इस साल आप शनि की साढ़े साती के दूसरे चरण में रहेंगे। समस्त आर्थिक संकट दूर होंगे, रूका हुआ हर पैसा मिलेगा। इस साल आप होंगे मालामाल।


कुंभ:इस वर्ष आपकी साढ़े साती का प्रथम चरण शुरु हो रहा है जो अगले 5 वर्षों तक आपकी कुंडली में रहने वाला है। शुभ कर्मों के प्रतिफल में आपको इस साल मिलने वाला है खूब सम्मान और खूब होगा धन का आगमन।


मीन:इस वर्ष मीन राशि के जातकों की कुंडली में शनि की साढ़े साती नहीं है। कुंडली में शनि की स्थिति शुभ होने पर आपके लिए भी यह साल धन की दृष्टि से शुभ है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


दिसंबर 25, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-141 (साल-01)
2. बुधवार, दिसंबर 25, 2019
3. शक-1941, मार्गशीर्ष- कृष्ण पक्ष, तिथि- त्रयोदशी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 07:13,सूर्यास्त 05:35
5. न्‍यूनतम तापमान -6 डी.सै.,अधिकतम-16+ डी.सै., शीत लहर के साथ बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...