शनिवार, 26 अक्तूबर 2019

प्रकाश का प्रतीक 'दीपक'

दीप, दीपक, दीवा या दीया वह पात्र है जिसमें सूत की बाती और तेल या घी रख कर ज्योति प्रज्वलित की जाती है। पारंपरिक दीया मिट्टी का होता है लेकिन धातु के दीये भी प्रचलन में हैं। प्राचीनकाल में इसका प्रयोग प्रकाश के लिए किया जाता था पर बिजली के आविष्कार के बाद अब यह सजावट की वस्तु के रूप में अधिक प्रयोग होता है। धार्मिक व सामाजिक अनुष्ठानों में इसका महत्व अभी भी बना हुआ है। यह पंचतत्वों में से एक, अग्नि का प्रतीक माना जाता है। दीपक जलाने का एक मंत्र भी है जिसका उच्चारण सभी शुभ अवसरों पर किया जाता है। इसमें कहा गया है कि सुन्दर और कल्याणकारी, आरोग्य और संपदा को देने वाले हे दीप, शत्रु की बुद्धि के विनाश के लिए हम तुम्हें नमस्कार करते हैं। विशिष्ट अवसरों पर जब दीपों को पंक्ति में रख कर जलाया जाता है तब इसे दीपमाला कहते हैं। ऐसा विशेष रूप से दीपावली के दिन किया जाता हैं। अन्य खुशी के अवसरों जैसे विवाह आदि पर भी दीपमाला की जाती है।


दीपक का इतिहास:-ज्योति अग्नि और उजाले का प्रतीक दीपक कितना पुरातन है इसके विषय में निश्चित रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता। गुफाओं में भी यह मनुष्य के साथ था। कुछ बड़ी अंधेरी गुफाओं में इतनी सुन्दर चित्रकारी मिलती है जिसे बिना दीपक के बनाना सम्भव नहीं था। भारत में दिये का इतिहास प्रामाणिक रूप से 5000 वर्षों से भी ज्यादा पुराना हैं जब इसे मुअन-जो-दडो में ईंटों के घरों में जलाया जाता था। खुदाइयों में वहाँ मिट्टी के पके दीपक मिले है। कमरों में दियों के लिये आले या ताक़ बनाए गए हैं, लटकाए जाने वाले दीप मिले हैं और आवागमन की सुविधा के लिए सड़क के दोनों ओर के घरों तथा भवनों के बड़े द्वार पर दीप योजना भी मिली है। इन द्वारों में दीपों को रखने के लिए कमानदार नक्काशीवाले आलों का निर्माण किया गया था।


दीपक भारतीय संस्कृति और जीवन में इस प्रकार मिला जुला है कि इसके नाम पर भारतीय शास्त्रीय संगीत में एक राग का नाम दीपक राग - रखा गया है। कहते हैं इसके गाने से दीपक अपने आप जलने लगते हैं।


शिवसेना और भाजपा में तकरार बढ़ी

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद भाजपा और शिवसेना की तकरार बढ़ गई है। भले ही दोनों दलों ने गठबंधन में चुनाव लड़ा था लेकिन सीएम पद को लेकर दोनों अपने-अपने दावे ठोक रहे हैं।


मुंबई ! मातोश्री में शिवसेना के चुने हुए विधायकों की बैठक हुई। इस बैठक के बाद जो बातें निकल कर आई, वह भाजपा को हैरान करने वाली है। शिवसेना ने साफ कहा है कि 50-50 फार्मूले के तहत ही सरकार का गठन होना चाहिए। शिवसेना ने ढाई साल के लिए सीएम का पद मांग लिया है। पार्टी ने यह कहा कि पहला जो ढाई साल होगा वह हमारी पार्टी का होगा। शिवसेना ने कहा कि अगर अमित शाह और देवेंद्र फडणवीस से लिखित आश्वासन मिला तभी जाकर हम भाजपा के साथ सरकार का गठन करेंगे।
शिवसेना की इस बैठक के बाद भाजपा और शिवसेना के बीच तकरार और बढ़ जाने की आशंकाए नजर आ रही है। हालांकि सरकार गठन के लिए अभी भी 9 नवंबर तक का वक्त है। अभी दोनों दलों के बीच सरकार गठन को लेकर औपचारिक बैठक भी नहीं शुरू कर पाई है। ऐसे में महाराष्ट्र में क्या होता है इसके लिए थोड़ा सा इंतजार करना पड़ेगा।


कमलेश की पत्नी संभालेगी पार्टी की कमान

स्व. कमलेश तिवारी की पत्नी ने कहा… न मैं किसी डरूँगी, न झुकुंगी और न ही समझौता करूंगी…


लखनऊ ! उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बीते दिनों जिस तरह से कमलेश तिवारी हत्याकांड हुआ उससे उत्तर प्रदेश के साथ ही पूरे देश मे सनसनी और दहशत फैल गई थी, लोग डरने लगे थे कि कहीं ये हत्याकांड कोई साम्प्रदायिक झगड़े का विकराल रूप न लेले और देश मे अशांति फैल जाए। मगर ईश्वर की कृपा से ऐसा नहीं हुआ और कमलेश तिवारी हत्याकांड में शामिल मुख्य अभियुक्तों को जल्द ही गिरफ्तार भी कर लिया गया, जिन पर वैधानिक कार्यवाही की जा रही है। वहीं इस हत्याकांड के बाद कमलेश तिवारी के पूरे परिवार और हिन्दू समाज पार्टी के लोगों में दुःख, मातम एवं शोक छा गया था। मगर इस सनसनीखेज घटना ने कई बार नाटकीय मोड़ लिए और परिवार वालों ने प्रदेश की वर्तमान सरकार के मुखिया पर भी इस हत्या में शामिल होने के संगीन आरोप भी लगाए, मगर अभियुक्तों की गिरफ्तारी के बाद से इस मामले से पर्दा भी उठ गया।


 


हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर मनोनीत हुई किरण कमलेश तिवारी…


आपको बताते चलें कि हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के बाद उनकी पत्नी एवं हिन्दू समाज पार्टी की नवनियुक्त राष्ट्रीय अध्यक्ष किरण कमलेश तिवारी ने आज लखनऊ में हजरतगंज स्थित यूपी प्रेस क्लब में एक प्रेसवार्ता का आयोजन कर पत्रकारों से कई मुद्दों पर बात करी। उन्होंने कहा कि मेरे पति एवं हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या की साज़िश हुई उसके बाद जैसे सनातनियों और हिन्दू समाज पार्टी के सभी छोटे बड़े पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने साथ दिया है मैं उनका धन्यवाद करती हूं क्योंकि इन सभी का सहयोग और सांत्वना मिली है जिसकी मैं दिल से आभारी हूँ। मगर मेरे पति कमलेश तिवारी की हत्या के बाद शासन प्रशासन ने सिर्फ 15, लाख रुपया देकर अपना पल्ला झाड़ लिया है वो निंदनीय है, उन्होंने कहा कि जिस दिन ऐसी कोई घटना भाजपा के किसी नेता के साथ हो गई तो मैं ये 15 लाख और अपनी तरफ से 10 लाख और मिलाकर उस नेता के परिवार वालों को 25 लाख रुपया दूंगी। उन्होंने ये भी कहा कि मैं हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय पद पर रहकर पार्टी के सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को विश्वास दिलाती हूँ कि मैं अपने स्व. पति कमलेश तिवारी के सपनो को पूरा करूंगी और साथ ही मैं न किसी से डरूँगी, न झुकूंगी और न ही समझौता करूंगी।


 


भाजपा और उसके नेता नही चाहते हैं कि जिस हिन्दू नेता से पार्टी को खतरा है वो ज़िन्दा रहे:- राजेश मणि त्रिपाठी…


हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राजेशमणि त्रिपाठी ने संगीन आरोप लगते हुए कहा कि सरकार एनआईए की जांच कराने से क्यों कतरा रही है, इस बात से ये साफ जाहिर है कि कमलेश तिवारी की हत्या शासन प्रशासन की बड़ी चूक है। उन्होंने कहा कि इस जांच के बाद कई अधिकारी और नेता भी बेनकाब हो सकते हैं इसलिए जांच नहीं कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि जैसे योगी अपनी सुरक्षा को लेकर संसद में रोये थे, क्या वो भूल गए हैं। राजेश मणि त्रिपाठी ने कहा कि योगी जी आपका जीवन तो जीवन है और दूसरे को जीवन जीने का कोई अधिकार नही है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कमलेश तिवारी की हत्या में परोक्ष या अपरोक्ष रूप से शासन प्रशासन दोनो ही जिम्मेदार हैं, क्योंकि जैसे कमलेश तिवारी की सुरक्षा को हटाया गया और तमाम विजलेंस की रिपोर्टों को अनदेखा किया गया है वो साफ जाहिर करता है कि भाजपा नहीं चाहती थी कि हिन्दू समाज पार्टी के पूर्व अध्यक्ष कमलेश तिवारी ज़िन्दा रहें। आगे कहा कि अभी अभी यतीन्द्र नरसिंहानंद की सुरक्षा भी हटा ली गई है जबकि उन्हें पता है कि यतीन्द्र नरसिंहानंद भी जिहादियों की हिट लिस्ट में सबसे ऊपर हैं। उन्होंने कहा कि इससे साफ जाहिर है कि भाजपा और उसके नेता नही चाहते कि जिस हिन्दू नेता से भाजपा को खतरा है वो ज़िन्दा रहे, मगर हम ऐसा नहीं होने देंगे और अपनी पार्टी को और मजबूत करेंगे।


जम्मू-कश्मीर, लद्दाख में प्रशासनिक फेरबदल

नई दिल्ली! जम्मू कश्मीर और लद्दाख में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल किया गया है! जम्मू और कश्मीर के पहले उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू होंगे और लद्दाख के पहले उपराज्यपाल का कार्यभार राधाकृष्ण माथुर को सौंपा गया है! जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक को गोवा का राज्यपाल बना दिया गया है जबकि श्रीधरन पिल्लई मिजोरम के राज्यपाल होंगे! खबर के मुताबिक आईएएस अधिकारियों गिरीश चंद्र मुर्मू और आरके माथुर को क्रमश: जम्मू कश्मीर और लद्दाख का उपराज्यपाल नियुक्त किया गया! यह जानकारी शुक्रवार को एक आधिकारिक विज्ञप्ति में दी गई!


मुर्मू जहां गुजरात काडर के 1985 बैच के अधिकारी हैं और केंद्रीय वित्त मंत्रालय में व्यय सचिव के तौर पर कार्यरत हैं, वहीं माथुर 1977 बैच के अधिकारी हैं और वह रक्षा सचिव के तौर पर कार्य कर चुके हैं और पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त (सीआईसी) हैं! राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि जम्मू कश्मीर के वर्तमान राज्यपाल सत्यपाल मलिक को गोवा का राज्यपाल बनाया गया है! जम्मू कश्मीर के पूर्व वार्ताकार दिनेश्वर शर्मा को लक्षद्वीप का प्रशासक नियुक्त किया गया!


दोनों केंद्र शासित प्रदेश 31 अक्टूबर को अस्तित्व में आ जाएंगे! मोदी सरकार ने गत पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त कर दिये थे और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया था!


सिंधु-नेहवाल को मिली करारी शिकस्त

पेरिस। सात्विकसैराज रेंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की भारतीय जोड़ी ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते शुक्रवार को बेहतरीन जीत हासिल कर फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पुरुष युगल के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया जबकि विश्व चैंपियन पीवी सिंधू और आठवीं सीड सायना नेहवाल चर्टरफाइनल में हार कर बाहर हो गईं।
विश्व चैंपियन सिंधू का विश्व चैंपियनशिप के बाद निराशाजनक प्रदर्शन यहां भी जारी रहा। पांचवीं सीड सिंधू ने अपनी चिर प्रतिद्वंद्वी और टॉप सीड ताइपे की ताई जू यिंग के खिलाफ कड़ा संघर्ष किया लेकिन जू यिंग ने सिंधू को एक घंटे 15 मिनट तक चले मुकाबले में 21-16, 24-26, 21-17 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बना ली।
सिंधू की हार के साथ एकल मुकाबलों में भारतीय चुनौती समाप्त हो गयी। सिंधू फ्रेंच ओपन से पहले चीन ओपन, कोरिया ओपन और डेनमार्क ओपन में दूसरे राउंड से आगे नहीं जा पायी थीं और पेरिस में उनका सफर चर्टरफाइनल में थम गया। सिंधू की नंबर एक जू यिंग के खिलाफ करियर के 16 मुकाबलों में यह 11वीं पराजय है।
सात्विकसैराज रेंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी ने दूसरे दौर में दूसरी सीड जोड़ी इंडोनेशिया के मोहम्मद अहसान और हेंड्रा सेतियावान को हराया था और चर्टरफाइनल में आज उन्होंने डेनमार्क की जोड़ी किम एस्ट्रप और एंडर्स रासमुसेन को 39 मिनट में 21-13 22-20 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बना ली। भारतीय जोड़ी की डेनमार्क की जोड़ी के खिलाफ तीन मुकाबलों में यह पहली जीत है। इससे पहले आठवीं सीड सायना को कोरिया की एन सी यंग ने 49 मिनट के कड़े संघर्ष में 22-20, 23-21 से पराजित कर सेमीफाइनल में जगह बना ली।


विश्व रैंकिंग में नौंवें नंबर की खिलाड़ी सायना का 16वीं रैंकिंग की कोरियाई खिलाड़ी के खिलाफ यह करियर का पहला मुकाबला था। सायना के पास दोनों गेम में गेम अंक थे लेकिन उन्होंने मौकों को अपने हाथों से फिसल जाने दिया। सायना पिछले सप्ताह डेनमार्क ओपन के पहले राउंड में हार गयीं थीं और यहां उनका सफर चर्टरफाइनल में समाप्त हो गया। इस बीच टूर्नामेंट के सबसे बड़े उलटफेर में विश्व के नंबर एक खिलाड़ी और टॉप सीड जापान के केंतो मोमोता चर्टरफाइनल में आठवीं सीड इंडोनेशिया के एंथनी गिंटिंग से 43 मिनट में 10-21, 19-21 से हारकर बाहर हो गए।


बुमराह को सर्जरी की जरूरत नहीं,होगी वापसी

नई दिल्ली। भारतीय गेंदबाजी कोच भरत अरूण ने कहा है कि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की पीठ की चोट के लिये अभी सर्जरी की जरूरत नहीं है और वह जल्द टीम में वापसी कर सकते हैं। बुमराह के हालांकि अभी भी घरेलू सत्र के शेष मुकाबलों में खेलने की उम्मीद नहीं है जिसमें अगले तीन महीने में बंगलादेश, वेस्टइंडीज़ और श्रीलंका के खिलाफ होने वाली सीरीज शामिल हैं।
इससे पहले अक्टूबर में बुमराह नेशनल क्रिकेट अकादमी के प्रमुख फिजियोथैरेपिस्ट आशीष कौशिक के साथ ब्रिटेन जाकर अपनी पीठ समस्या के लिये विशेषज्ञों से भी मिलने गये थे।


भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने हालांकि बुमराह की पीठ की चोट को लेकर सार्वजनिक तौर पर कोई बयान नहीं दिया है। अरूण ने संकेत दिये हैं कि बुमराह न्यूजीलैंड के साथ टेस्ट सीरीज़ को लेकर टीम में वापसी कर सकते हैं। हालांकि बुमराह की अनुपस्थिति के बावजूद टीम को उनकी कमी महसूस नहीं हो रही है जिसमें मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा और उमेश यादव गेंदबाजी आक्रमण में कमाल का प्रदर्शन कर रहे हैं। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 3-0 की क्लीन स्वीप में उमेश और शमी ने अहम योगदान निभाया था। वर्ष 2015 से ही अरूण भारतीय टीम के साथ काम कर रहे हैं और उमेश के प्रदर्शन से काफी प्रभावित हैं जिन्होंने दो टेस्टों में 11 विकेट निकाले। उन्होंने कहा, वह काफी मजबूत हैं और बल्लेबाजों को काफी परेशान करते हैं। वह बढिय़ा रिवर्स स्विंग कराते हैं। वह और शमी दोनों काफी आक्रामक हैं। गेंदबाजी कोच ने ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा की भी तारीफ की।


चक्रवाती तूफान 'क्यार' का खतरा बढ़ा

मुंबई। मुंबई से 310 किमी दूर और पश्चिम रत्नागिरी से 200 किमी दूर चक्रवाती तूफान क्यार का खतरा बढ़ता जा रहा है। शनिवार को कर्नाटक के मंगलौर बंदरगाह पर 100 मछुआरे बोट को समुद्र से रेस्क्यू कर किनारे लाया गया है। करीब हजार मछुआरों को भी तटीय इलाकों से रेस्क्यू कर सुरक्षित जगहों पर रखा गया है। इसके साथ ही हजारों लोगों को बंदरगाह के सुरक्षित स्थान में आश्रय प्रदान किया गया। वहीं कर्नाटक में भी भारी बारिश की खबर है।
कर्नाटक के उडुपी के कुछ हिस्सों में आज तेज बारिश हुई। मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने शुक्रवार को गोवा, कर्नाटक और दक्षिण कोंकण के तटीय जिलों में हल्की से मध्यम वर्षा की चेतावनी जारी की थी। मौसम विभाग ने बताया था कि हवा की गति 90 किमी प्रति घंटे से 110 किमी प्रति घंटे के बीच हो सकती है। इससे एक दिन पहले मौसम विभाग के मुंबई केन्द्र ने कहा कि अरब सागर में गहरे विक्षोभ के चलते चक्रवाती तूफान क्यार तेज हो गया है।
हवा की गति रविवार तक बढ़कर 200 प्रति घंटे की रफ्तार भी हो सकती है। इस्ट-सेंट्रल अरेबियन सागर में समुद्री वातावरण में भी बदलाव देखा जा सकता है। वेस्ट-सेंट्रल अरेबियन सागर में 28 से 31 अक्टूबर तक हालात बेहद नाजुक हो सकते हैं।


पूर्व पाक प्रधानमंत्री को आया हार्ट अटैक

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को हार्ट अटैक आया है। बता दें कि नवाज शरीफ पहले से ही बीमार चल रहे हैं। जियो न्यूज के अनुसार यह माइनर हार्ट अटैक था और अभी उनकी हालत स्थिर है। नवाज शरीफ लाहौर के सर्विसेज अस्पताल में भर्ती हैं। पाकिस्तानी मीडिया के सूत्रों के अनुसार उनके इकोकॉर्डियोलॉजी और इलेक्टोकार्डियोग्राम टेस्ट हुए हैं और उसके रिपोर्ट सामान्य हैं। शरीफ पिछले कई दिनों से अस्पताल में भर्ती हैं। शरीफ का एक ऐसी बीमारी का इलाज चल रहा है, जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करती है। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के 69 वर्षीय सुप्रीमो को राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) कार्यालय से लाहौर में सर्विसेज अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनका प्लेटेलेट काउंट अचानक गिर गया था। बता दें लाहौर हाईकोर्ट ने शुक्रवार को चौधरी शुगर मिल भ्रष्टाचार मामले में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को चिकित्सा आधार पर जमानत दे दी। डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने अपने भाई पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की रिहाई के लिए जमानत अर्जी दायर की थी।


कांग्रेस की 'चिट्ठी' भाजपा के नाम

चंडीगढ़। बीजेपी के सावरकर को भारतरत्न के वादे की आलोचना के बाद अब कांग्रेस ने भगत सिंह को भारत रत्न देने की मांग तेज कर दी है। आनंदपुर साहिब से सांसद और कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष तिवारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव के लिए भारत रत्न की मांग की है। साथ ही चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम भगत सिंह के नाम पर करने की मांग की है। पीएम मोदी को लिखी चिट्टी  अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए मनीष तिवारी ने लिखा कि शहीद-ए-आजम भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को भारत रत्न से सम्मानित करने की मांग के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मेरी चिट्टी । सरकार औपचारिक रूप से उन्हें शहीद-ए-आजम का सम्मान दे और भगत सिंह की याद में मोहाली में स्थित चंडीगढ़ हवाई अड्डे को समर्पित करे। मनीष तिवारी ने 26 जनवरी, 2020 को तीनों को भारत रत्न से सम्मानित करने की मांग की है। इससे पहले भी वह भारत सरकार की ओर से शहीद-ए-आजम भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु और शहीद उधम सिंह को भारत रत्न की मांग कर चुके हैं। बता दें कि महाराष्ट्र चुनाव के लिए बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में सावरकर को भारत रत्न देने का वादा किया था। कांग्रेस ने इसकी आलोचना की थी। तब मनीष तिवारी ने बीजेपी की इस मांग पर कटाक्ष करते हुए कहा था कि वे महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को यह सम्मान देने की मांग क्यों नहीं करती? कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा कि बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार को महात्मा गांधी के 150वें जयंती वर्ष पर इस मुद्दे पर गंभीरता से सोचना चाहिए।


सब-इंस्पेक्टर की बेटी ने की खुदकुशी

भिलाई ! सुसाइड नोट लिखकर सब इंस्पेक्टर की एक बेटी ने खुदकुशी कर ली। एक तरफ जब पूरा प्रदेश धनतेरस की खुशियों में डूबा हुआ था, उसी रात रायपुर PHQ में पदस्थ पुलिसकर्मी की बेटी फांसी पर झूल गयी। जानकारी के मुताबिक सब इंस्पेक्टर की बेटी की एक सहेली ने कुछ दिन पहले खुदकुशी की थी, जिसके बाद से ही वो काफी परेशान चल रही थी।


मृतका ने खुदकुशी के पहले एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है, जिसमें खुद अपनी मर्जी से खुदकुशी करने और जिंदगी से नाखुशी बतायी है। नोट में लड़की ने पापा के लिए सॉरी लिखा है। परिजनों को लड़की की खुदकुशी की जानकारी तब हुई, जब सुबह देर तक दरवाजा नहीं खुला। काफी देर तक जब दरवाजा नहीं खुला तो परिवार के लोग दरवाजा तोड़कर अंदर दाखिल हुए, जिसके बाद कमरे के भीतर बेटी फांसी से झूलती हुई नजर आयी। जानकारी के मुताबिक गुरुवार को युवती की शादी के लिए लड़के वाले देखने आए थे। लेकिन दोनों बेटी और पिता को रिश्ता मंजूर नहीं था। रिश्ते वालों के जाने के बाद सभी ने एक साथ खाना खाया और अपने कमरे में सोने चले गए थे। देर रात बेटी ने सुसाइड कर ली।


चाकू की नोक पर नाबालिग से दुष्कर्म

सुनील कुमार तिवारी


कुशीनगर। नेबुआ नौरंगिया थाना क्षेत्र के एक गांव मे सुबह गांव के बाहर शौच करने गई एक छात्रा के साथ गांव के ही एक युवक द्वारा चाकू दिखाकर गन्ने के खेत मे ले जाकर दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। पीडिता ने थानाध्यक्ष व एसपी को शिकायत पत्र सौपकर कार्रवाई की मांग की है।
मिली जानकारी के अनुसार ये मामला चौबीस अक्टूबर सुबह आठ बजे की है।कक्षा आठ मे पढने वाली एक छात्रा शौच के लिए गांव के बाहर गई हुई थी। गांव का ही पहले से घात लगाये खड़ा युवक अपने मित्रो के साथ चाकू दिखा डरा धमकाकर गन्ने के खेत मे उठा ले गए।जहां युवक द्वारा छात्रा के साथ दुष्कर्म किया गया और उसके मित्र चाकू ले डराते धमकाते रहे।घटना के बाद जब रोती हुई छात्रा घर पहुच अपने परिजनो से शारी आपबीती बताई तो परिजन घटना सुन दंग रह गए।पीडिता ने थानाध्यक्ष व पुलिस अधीक्षक को शिकायत पत्र सौपकर कार्रवाई की मांग की है।पीडिता का ये भी आरोप है कि उक्त युवक द्वारा पहले भी दो बार दुष्कर्म का प्रयास किया जा चुका है। जिसमे पुलिस से शिकायत भी किया गया था। पुलिस द्वारा आरोपी को थाने लाकर कुछ दिन बैठाकर पैसा ले छोड दिया गया था।यदि पुलिस उस वक्त कार्रवाई की होती तो शायद ये घटना घटित नही होता।इस सम्बन्ध मे थानाध्यक्ष धर्मेद्र कुमार सिंह का कहना है कि मामला संज्ञान मे नही है,पता करवाता हूं।



शहीद मेजर के परिजनों से की मुलाकात

शामली! शामली में दीपावली पर घरों और व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में भव्य सजावट तथा श्रद्धाभक्ति पूर्वक गणेश-लक्ष्मी पूजन कर सुख-समृद्धि की कामना की गई।


इस मौके पर शामली भाजपा के अजय संगल, निशीकांत संगल, रेखा संगल, निशा शर्मा, मंजू आर्य, सुनीता, स्नेहा, रेखा शर्मा, सुरक्षा, आशा, भावना सैनी, सरिता  द्वारा बनता निवासी मेजर देशराज सिंह पुलवामा हमले में हुए शहीद के घर पहुंच कर मां सम्मान भाभी शहीद अमित कोरी के पिता से मिलकर भाजपा नेता अजय संगल शामली ने शुभकामनाएं दी। 


शामली जिला के वीर शहीद जवान मेजर देशराज सिंह व अमित कोरी के घर पहुंच कर परिवार के सदस्यों के बीच मिठाईयां भेंट की। इस मौके पर शहीद की भाभी और पिता  के साथ मिलकर शहीद के चित्र पर फूल माला चढ़ाई।
इस मौके पर  दर्जनों भाजपा नेत्री- नेता मौजूद रहे।


पूजा में शामिल होने का बेसब्री से इंतजार

ममता के आवास पर काली पूजा में शामिल होने का बेसब्री से इंतजार है : राज्यपाल


कोलकाता! पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने शनिवार को कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उन्हें और उनकी पत्नी को अपने कोलकाता स्थित आवास पर काली पूजा में शामिल होने के लिये आमंत्रित किया है और सामारोह में शामिल होने का उन्हें बेसब्री से इंतजार है।


धनखड़ ने उत्तर 24 परगना जिले में बारासात में काली पूजा के एक पंडाल का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि 1978 से मुख्यमंत्री के कालीघाट स्थित आवास पर हर साल पूजा का आयोजन होता आया है और इसके लिये आमंत्रण मिलने से वह बहुत अभिभूत हैं।


उन्होंने कहा, ''मैंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखकर बताया है कि मैं और मेरी पत्नी भाई दूज के अवसर पर उनके घर आना चाहते हैं। उत्तर बंगाल की अपनी यात्रा से लौटकर मुख्यमंत्री ने वापस पत्र लिखा और मुझे और मेरी पत्नी को उनके घर पर होने वाली काली पूजा में सम्मिलित होने के लिये आमंत्रित किया।''धनखड़ ने यहां पत्रकारों को बताया, ''उनका आमंत्रण मिलने से हमलोग बहुत खुश हैं और उत्सुकता से पूजा में शामिल होने का इंतजार कर रहे हैं। आशा है मुझे यहां किसी और सवाल का जवाब देने की आवश्यकता नहीं है।''


दिलचस्प है कि बारासात क्लब के मुख्य संरक्षक और टीएमसी नेता धनखड़ को आमंत्रित किये जाने की बात कहकर अपने पद से हट गये जिससे शुक्रवार को विवाद पनप गया। तृणमूल संचालित बारासात नगर निगम के अध्यक्ष सुनील मुखर्जी ने कहा कि ''राज्यपाल राज्य सरकार को लेकर पक्षपाती हैं'' इसलिए क्लब के इस कदम से वह खुश नहीं हैं।


पटाखा मार्केट में आग,दुकानें जलकर राख

यूपी के पटाखा मार्केट में आग लगने से मची भगदड़, हाथरस की 22 दुकानें जलकर राख 


हाथरस! उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले के सिकंदराराऊ के कचोरा गांव में शनिवार को साढ़े 11 बजे आतिशबाजी बाजार में अचानक आग लग जाने से अफरा-तफरी मच गई। बताया गया कि एक शराबी युवक भीड़भाड़ वाले इलाके में पटाखा जला रहा था। इसी दौरान एक दुकान में आग लग गई, जो देखते ही देखते बाजार की 22 दुकानों में फैल गई।


जगह-जगह पटाखे होने के कारण धमाकों की तेज आवाज से पूरा बाजार दहल गया। कई किलोमीटर तक पटाखों की आवाज गूंजती रही, जिससे पूरे इलाके में दहशत फैल गई। बाजार में भी एकाएक भगदड़ मच गई।


सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और हालात को काबू में किया। पटाखा जलाने वाले शराबी युवक को लोगों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। बताया गया कि आग लगने के कारण दस लाख से ज्यादा का नुकसान हो गया है। फिलहाल किसी तरह के हताहत की खबर नहीं है।


चांदी-सोने की बिक्री मे भारी गिरावट

धनतेरस पर ठंडा रहा बाजार, सोने-चांदी की बिक्री 40% तक गिरी


नई दिल्ली! कमजोर मांग और कीमती धातु की ऊंची कीमतों से धनतेरस में सोने और चांदी की बिक्री में 40 प्रतिशत तक की गिरावट होने का अनुमान है। धनतेरस पर सोना, चांदी और अन्य कीमती चीजें खरीदना शुभ माना जाता है। हालांकि, आभूषण कारोबारियों का कहना है कि इस बार देशभर के अधिकांश बाजारों में ठंडा माहौल देखने को मिला। कारोबारियों ने ग्राहकों की संख्या में कमी और उपभोक्ता द्वारा खर्च में कटौती करने की बात कही।


दिल्ली में शुक्रवार को सोना 220 रुपये बढ़कर 39,240 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया। पिछले साल धनतेरस में सोना 32,690 रुपये पर था। इस दौरान, कीमतों में 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई। खुदरा व्यापारियों के संगठन कैट के मुताबिक, इस साल धनतेरस में शाम तक करीब 6,000 किलो सोना बिकने का अनुमान है। इसका मूल्य 2,500 करोड़ रुपये के आसपास है। पिछले साल धनतेरस पर 17,000 किलो सोने की बिक्री हुई थी। इसका मूल्य 5,500 करोड़ रुपये था।


हिंदू-मुस्लिम एक साथ मनाते हैं दिवाली

झुंझुनू! आज देशभर में दीपावली मनाई जाएगी। हर मुंडेर खुशियों से रोशन होगी। कई जगहों पर कौमी एकता की मिसाल भी देखने को मिलेगी। ऐसी ही एक जगह राजस्थान के झुंझुनूं जिला मुख्यायल पर ​है। नाम है कमरूद्दीन शाह दरगाह।


कहने को यह भी अन्य दरगाह की तरह ही है, मगर यहां से दीपावली पर साम्प्रदायिक सौहार्द की अनूठी परम्परा जुड़ी हुई है, जिसके तहत हिन्दू और मुस्लिम समुदायक के लोग एक साथ मिलकर दरगाह में दिवाली मनाते हैं। यहां दीप जलाते हैं। आतिशबाजी करते हैं और मिठाई खिलाकर खुशियां मनाते हैं। कमरूद्दीन शाह दरगाह में वर्षों से चली आ रही यह परम्परा वर्तमान में भी बड़ी शिददत से निभाई जा रही है।


कमरूद्दीन शाह दरगाह के गद्दीनसीन एजाज नबी बताते हैं कि दरगाह में दिवाली मनाने की यह परंपरा करीब 250 साल पुरानी है। इसकी कहानी ये है कि किसी जमाने में सूफी संत कमरूद्दीन शाह हुआ करते थे, जिनकी झुंझुनूं से चचलनाथ टीले के संत चंचलनाथ जी के साथ गहरी मित्रता थी। कहते हैं कि दोनों दोस्तों का एक दूसरे से मिलने का मन होता तो एक दरगाह से और दूसरा संत आश्रम से गुफा से निकलते। दोनों बीच रास्ते में गुदड़ी बाजार ​में मिलते थे।


संत कमरूद्दीन शाह और संत चंचलनाथ उस जमाने में एक दूसरे के यहां होने वाले विशेष कार्याक्रमों में शामिल होते थे। उन्हीं की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए अब दरगाह में न केवल दिवाली मनाई जाती है बल्कि चंचलनाथ टीले के कार्यक्रम में भजन के साथ-साथ कव्वाली भी गूंजती है। दोनों संतों ने यह परंपरा लोगों सांप्रदायिक सौहार्द और कौमी एकता का संदेश देने के ​लिए शुरू की थी, जो आज भी जारी है।


विधानसभा के चौथे सत्र की अधिसूचना

रायपुर। छत्तीसगढ़ की पंचम विधानसभा के चौथे सत्र के लिए विधानसभा सचिवालय की ओर से शनिवार को अधिसूचना जारी कर दी गई है। 25 नवम्बर से विधानसभा सत्र की शुरुआत होगी। 25 नवम्बर को सुबह 11 बजे से सत्र की शुरुआत हो जाएगी। 25 नवम्बर से 6 दिसम्बर तक सत्र चलेगा। इस बीच 30 नवम्बर और 1 दिसम्बर को कोई कार्य नहीं होगा। इस सत्र में 10 बैठकें होंगी।


खट्टर को चुना भाजपा दल का नेता

नई दिल्ली। हरियाणा में बीजेपी और जेजेपी मिलकर सरकार बनाएंगे। चंडीगढ़ में शनिवार को बीजेपी विधायक दल की बैठक हुई, विधायक दल की बैठक के बाद खट्टर राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मनोहर लाल खट्टर रविवार दोपहर दो बजे शपथ भी ले सकते हैं। दिल्ली से पर्यवेक्षक बनकर गए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने जानकारी दी कि मनोहर लाल खट्टर सर्वसम्मति से बीजेपी विधायक दल के नेता चुने गए। उन्होंने बताया कि बैठक में अनिल जैन ने खट्टर के नाम का प्रस्ताव रखा। इस फैसले के बाद रविशंकर प्रसाद ने खट्टर को लड्डू भी खिलाया। पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पर्यवेक्षक बनकर हरियाणा जाना लेकिन फिर उनकी जगह रविशंकर प्रसाद पहुंचे। अनिल जैन भी इस बैठक में मौजूद रहे। बता दें कि अभी भी जेजेपी की तरफ से डिप्टी सीएम कौन होगा इसका फैसला नहीं हुआ है। विधायक दल के नेता चुने जाने के बाद मनोहर लाल खट्टर ने कहा, ''विधायकों ने सर्वसम्मति से मुझे नेता चुना है, मैं इसके लिए सभी का धन्यवाद देता हूं। जिस तरह से हमने पिछले पांच साल में सरकार चलाई है उसी तरह अगले पांच साल भी साफ सुथरी सरकार चलाने का प्रयास करेंगे। मैं प्रदेश की जनता को भी धन्यवाद देता हूं।''



हरियाणा में बीजेपी और जेजेपी की सरकार बनने का फॉर्मूला कल रात ही तय हुआ है। जेजेपी अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला से मुलाकात के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कल रात करीब नौ बजे एलान किया। दुष्यंत चौटाला के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आए अमित शाह ने कहा कि हरियाणा में बीजेपी जेजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाएगी। अमित शाह ने कहा, ''हरियाणा बीजेपी के सभी वरिष्ठ और जेजेपी के नेताओं की आज बैठक हुई। हरियाणा की जनता ने जो जनादेश दिया है उसे मद्देनजर रखते हुए, उसे स्वीकार करते हुए दोनों पार्टियों के नेताओं ने तय किया है कि हरियाणा में बीजेपी और जेजेपी मिलकर सरकार बनाएंगी। इस सरकार में मुख्यमंत्री बेजीपी का होगा और उप मुख्यमंत्री जेजेपी से होगा।'' बहुमत से चूकने के बाद हरियाणा में बीजेपी को गठबंधन की लाठी लेनी पड़ी है और उसकी लाठी बनी है। चौटाला परिवार की ही पार्टी जननायक जनता पार्टी यानी जेजेपी चाबी निशान वाले ओमप्रकाश चौटाला के पोते दुष्यंत चौटाला बीजेपी को सत्ता की चाबी सौंपी है। 10 विधायकों का समर्थन देकर जेजेपी ने बीजेपी के हाथ से हरियाणा फिसलने नहीं दिया। कल रात अमित शाह के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस में दुष्यंत चौटाला बैठे और हरियाणा का सस्पेंस खत्म हो गया।


श्रीराम का प्रतीकात्मक राज्याभिषेक

अयोध्या में दीपोत्सव आज, रिकॉर्ड 5 लाख 51 हजार दीयों से जगमगाएगा शहर


अयोध्या! उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अयोध्या में इस बार भी धूमधाम से दीपोत्सव की तैयारी में जुटी है। शनिवार को समूचे अयोध्या और सभी घाटों पर पांच लाख 51 हजार दीये जलाए जाएंगे। साथ ही 226 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी होगा। इस भव्य कार्यक्रम में राज्य की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी के अलावा फिजी गणराज्य की उपसभापति एवं सांसद वीना भटनागर और प्रदेश के सभी मंत्री मौजूद रहेंगे।


राज्य सरकार की ओर से बताया गया कि अयोध्या में शनिवार को सुबह 10 से 2 बजे तक भगवान श्रीराम के लीला चरित्र से जुड़ी विभिन्न झांकियों समेत भव्य शोभायात्रा निकलेगी। यह यात्रा साकेत महाविद्यालय से शुरू होकर रामकथा पार्क में समाप्त होगी। इसमें कई देशों के कलाकार भाग लेंगे। मुख्यमंत्री पौने चार बजे से चार बजे तक शोभायात्रा का अवलोकन करेंगे।


राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि इसके बाद श्रीराम-सीता का रामकथा पार्क में हेलीकॉप्टर से प्रतीकात्मक अवतरण और भरत मिलाप का कार्यक्रम होगा। सवा चार बजे से चार बजकर 40 मिनट तक रामकथा पार्क आगमन पर श्रीराम-जानकी का पूजन-वंदन, आरती और श्रीराम का प्रतीकात्मक राज्याभिषेक होगा।


सीएम पद पर शिवसेना की नजर

नई दिल्ली। महाराष्ट्र की 288 विधानसभा सीटों के परिणाम बीते गुरूवार को आ चुके हैं। परिणाम आने के बाद राज्य में नई सरकार को लेकर राजनीतिक हलचल तेज हो गई हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को राज्य में भाजपा-शिवसेना की जीत को लेकर बधाई दी और कहा कि वह सत्ता के बंटवारे को लेकर दिवाली के बाद बात करेंगे। भाजपा सूत्रों का कहना है मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना से कोई बातचीत नहीं होगी। बेशक उद्धव ठाकरे 50-50 के फॉर्मूला को लेकर दबाव डाल रहे हैं। इसका मतलब है कि मंत्रालयों का बंटवारा बराबर होगा और ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री का पद दोनों पार्टियों के पास रहेगा।


वहीं मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का कहना है कि भाजपा शिवसेना की मुख्यमंत्री पद को बांटने वाली मांग स्वीकार नहीं करेगा क्योंकि उसे 105 सीटें मिली हैं और उसके पास 10 निर्दलीयों का समर्थन है। यदि 56 सीटों वाली शिवसेना ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की मांग करती है तो भाजपा उसके साथ कोई डील नहीं करेगी। हालांकि सेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा, 'महाराष्ट्र की जनता का रुझान सीधा और साफ है। अति नहीं, उन्माद नहीं वर्ना खत्म हो जाओगे, ऐसा जनादेश ईवीएम की मशीन से बाहर आया। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को आखिरी समय तक यह आत्मविश्वास था कि ईवीएम से केवल कमल ही बाहर आएगा। मगर 164 में से 63 सीटों पर कमल नहीं खिला।'


इसी बीच शुक्रवार को सामना के कार्यकारी संपादक संजय राउत ने ट्विटर पर एक कार्टून शेयर किया है। जिसमें उनकी पार्टी का चुनाव चिह्न 'बाघ', एनसीपी के चुनाव चिह्न 'घड़ी' को पहने और भाजपा के चुनाव चिह्न 'कमल' को सूंघ रहा है। इसके साथ उन्होंने लिखा, 'बुरा न मानो दिवाली है।' शिवसेना के चुने गए प्रतिनिधि शुक्रवार को ठाकरे के आवास मातोश्री पहुंचे और उन्होंने आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाने की मांग की। बता दें कि आदित्य ने पहली बार वर्ली विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और उन्हें जीत मिली है। इसे लेकर राज्य में पोस्टर भी लगाया गया है जिसमें आदित्य को भावी मुख्यमंत्री के तौर पर दिखाया गया है।


शिवसेना के प्रकाश सुर्वे जो मगथाने सीट से जीते हैं उन्होंने कहा, 'हमारी मांग है कि आदित्यजी राज्य कैबिनेट की अध्यक्षता करें।' राजनीतिक हलकों में इस तरह की खबरे थीं कि कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) शिवसेना को सरकार बनाने के लिए समर्थन दे रही है। इसे बाद में राज्य कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने खारिज कर दिया और कहा कि उनकी और एनसीपी की ऐसी कोई योजना नहीं है।


बात को तूल देकर विवाद में न फंसे:मिथुन

राशिफल


मेष:कार्यक्षेत्र में उन्नति का दिन है। व्‍यापारियों को धन लाभ होगा। नौकरीपेशे वालों को प्रोत्साहन मिलेगा। वरिष्ठ अधिकारियों की कृपा प्राप्त होगी। दिन सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर है। कहीं से शुभ समाचार प्राप्‍त होगा। परिवार में हंसी-खुशी का माहौल रहेगा। 


वृषभ:मिश्रित प्रभाव वाला दिन है। आज समय और परिस्थिति के अनुसार कार्य करना लाभदायक रहेगा, घर-परिवार में परिजनों के साथ संबंध मधुर रहेंगे। सेहत को लेकर लापरवाही करना भारी पड़ सकता है। मौसम की मार स्‍वास्‍थ्‍य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है। खर्च अध‍िक हो सकते हैं। 


मिथुन:आज चुनौतियां आपको दावत देती दिखाई दे रही हैं, अतः सोच-समझकर ही विवेकपूर्ण कार्य व्यवहार करें, अनावश्यक वार्तालाप से बचें। आज कहीं से आपको अशुभ समाचार भी मिल सकता है। बीमारी या फिर अन्‍य किसी वजह से आपको अतिरिक्‍त धन खर्च करना पड़ सकता है। किसी से विवाद में न पड़ें। किसी बात को तूल न दें।


कर्क:पराक्रम में वृद्धि का दिन है। कामकाज क्षेत्र में लोगों का सहयोग एवं मदद आपको प्रोत्साहित करेगी, दिन उपलब्धियों से पूर्ण रहेगा। व्‍यापारियों को आज निवेश में लाभ होगा। नौकरीपेशा लोगों को कार्यक्षेत्र में लाभ होगा। दांपत्‍यजीवन में मधुरता आएगी। संतान की ओर से सुखद समाचार मिलेगा!


सिंह:लाइफ पार्टनर के सहयोग के कारण दिन सुखद व्यतीत होगा, कहीं से कोई सूचना प्राप्त होगी जिसे लेकर आपके मन में उत्साह बना रहेगा। आपका कोई प्रियजन आज के दिन आपको सरप्राइज भी दे सकता है। दोस्‍तों के घर आगमन से दिन आज आनंद में कटेगा। शाम तक धन लाभ्‍ होने की भी उम्‍मीद है।


कन्या:स्वास्थ्य से संबंधित विकार उत्पन्न हो सकते हैं, खान-पान का ध्यान रखें, धन प्राप्ति के लिए शुभ दिन है। आज आपकी मेहनत रंग लाएगी। पुराने समय से रुका पड़ा कोई काम आज पूरा होगा। धन निवेश में आज भाग्‍य आजमा सकते हैं। लाभ होने के पूर्ण आसार हैं। सेहत के प्रति लापरवाही पड़ सकती है।


तुला:आज अनावश्यक व्यय का योग आपको परेशान करेगा। दूर की यात्रा से बचें, अन्यथा दिक्कतें आ सकती हैं, अजनबियों से मेल-जोल न करें। वाद-विवाद से आज दूर रहें। किसी की बात को अधिक तूल न दें। वाहन सावधानी से चलाएं और दूसरों पर अधिक भरोसा न करें। शाम का समय अच्‍छा बीतेगा।


वृश्चिक:लम्बे अरसे से जिसका आपको इन्तजार था, वह अभिलाषा आज पूर्ण होगी, मन में उत्साह एवं लोगों के सहयोग के कारण सभी कार्य बनेंगे। नौकरीपेशा लोगों को आज वरिष्‍ठों से सम्‍मान मिल सकता है। व्‍यापारियों को आज विशेष लाभ की प्राप्ति हो सकती है। सामाजिक कार्यों में आपको प्रशंसा प्राप्‍त होगी। 


धनु:आज के दिन सकारात्मक सूचनाएं प्राप्त होंगी, जिसके कारण आपको धन लाभ अगले कुछ दिनों में प्राप्त होगा, कर्मक्षेत्र में वृद्धि का योग है। छात्रों को प्रतियोगी परीक्षा में पास होने की शुभ सूचना प्राप्‍त हो सकती है। प्रेम प्रसंगों में भी आज जातकों का अच्‍छा दिन बीतेगा। 


मकर:भाग्य आज आपका साथ देगा, शेयर आदि में निवेश कारगर सिद्ध होगा, प्रियजनों से मुलाकात के कारण मन प्रफुल्लित हेागा। दांपत्‍य जीवन में प्रसन्‍नता का माहौल रहेगा। महिलाओं की कोई इच्‍छा आज पूरी हो सकती है। वहीं दिन उत्‍तरार्द्ध में आपके घर अतिथि का आगमन हो सकता है। तैयारी रखें।


कुंभ:आज वाहन सावधानीपूर्वक चलाएं, अजनबियों से दूर रहें, कोई प्रिय चीज खो सकती है, संघर्षपूर्ण दिन की आशंका है। अतः सोच-समझकर ही कार्य व्यवहार करें। निवेश के बारे में विचार कर रहे लोग अभी रुके रहें और अच्‍छा वक्‍त आने का इंतजार करें। कार्य-व्‍यवहार में मधुर वाणी का प्रयोग आपको लाभ दिलवा सकता है।


मीन:प्रिय व्यक्ति से मुलाकात एवं साझेदारी में लाभ का योग है। करियर में विद्यार्थियों को नई दिशा प्रदान करने वाला दिन है। पहले की गई मेहनत अब रंग ला रही है। आपके सभी काम धीरे-धीरे बनते दिख रहे हैं। सेहत का विशेष ध्‍यान रखें और मौसम की मार को बाधा न बनने दें।


खतरनाक है खारे पानी का मगरमच्छ

खारे पानी का मगरमच्छ एक अवसरवादी शीर्ष शिकारी है जो इसके क्षेत्र में प्रवेश करने वाले लगभग किसी भी जानवर का शिकार कर सकता है, चाहे वह पानी में हो या शुष्क भूमि पर. वे इनके क्षेत्र में प्रवेश करने वाले मनुष्यों पर भी हमला करने के लिए जाने जाते हैं। किशोर जीवों को छोटे जानवरों का शिकार करने की मनाही होती है जैसे कीट, उभयचर, केंकड़े, छोटे सरीसृप और मछली! जैसे जैसे जानवर बड़ा होता जाता है, इसके आहार में कई प्रकार के जानवर शामिल होते जाते हैं, हालांकि अपेक्षाकृत छोटे आकार के शिकार भी एक व्यस्क के आहार का महत्वपूर्ण हिस्सा बनाते हैं। बड़े आकार के व्यस्क खारे पानी के मगरमच्छ अपनी रेंज में आने वाले किसी भी जानवर को खा सकते हैं, इसमें बन्दर, कंगारू, जंगली सूअर, डिंगो (एक प्रकार का कुत्ता), गोआना, पक्षी, घरेलू पशु, पालतू जानवर, मनुष्य, पानी की भैंस, गौर, चमगादड़ और यहां तक कि शार्क भी शामिल है।घरेलू पशु, घोड़े, पानी की भैंस और गौर, वे सभी जिनका वजन एक टन से भी अधिक होता है, वे नर मगरमच्छ के द्वारा किये जाने वाले सबसे बड़े शिकार माने जाते हैं। आम तौर पर ये बहुत सुस्त होते हैं- यह एक ऐसी विशेषता है! जिसकी वजह से ये कई महीनों तक भोजन के बिना जीवित रह सकते हैं- ये अक्सर पानी में मटरगश्ती करते हैं और दिन में धूप सेंकते हैं और रात में शिकार करना पसंद करते हैं। खारे पानी के मगरमच्छ जब पानी से हमला करते हैं तब विस्फोटक गति से आगे बढ़ते हैं।


मगरमच्छ की कहानियों को भूमि पर कम दूरी के लिए रेस के घोड़े की तुलना में अधिक जाना जाता है, ये शहरी कहानियों से कुछ बढ़कर हैं। पानी के किनारे पर, तथापि, वे दोनों पैरों और पूंछ से प्रणोदन गठजोड़ कर सकते हैं, इसका प्रत्यक्ष दर्शन दुर्लभ है।


हमला करने से पहले यह आमतौर पर इन्तजार करता है कि शिकार पानी के किनारे पर आ जाये, इसके बाद यह अपनी पूरी क्षमता से जानवर को पानी में खींच लेता है। ज्यादातर शिकार किये जाने वाले जानवरों को मगरमच्छ के जबड़े के दबाव से ही मार दिया जाता है, हालांकि कुछ जानवर संयोग से डूब जाते हैं। यह एक शक्तिशाली जानवर है, यह एक पूर्ण विकसित पानी की भैंस को नदी में घसीट सकता है, या पूर्ण विकसित बोविड को अपने जबड़ों से कुचल सकता है। इसकी शिकार की प्ररुपिओक तकनीक को "डेथ रोल" के रूप में जाना जाता है: यह जानवर को जकड का पूरी क्षमता के साथ रोल कर देता है। इससे किसी भी संघर्षरत जानवर का संतुलन बिगड़ जाता है, जिससे इसे पानी में खींचना आसान हो जाता है। "डेथ रोल" तकनीक का उपयोग एक मृत जानवर को फाड़ने के लिए भी किया जाता है।


खारे पानी के शिशु मगरमच्छ छिपकली, शिकारी मछली, पक्षी और कई अन्य शिकारियों का शिकार भी बन सकते हैं। किशोर अपनी रेंज के बंगाल टाइगर और तेंदुओं का भी शिकार बन सकते हैं, हालांकि यह दुर्लभ है।


एक बुद्धिमान पक्षी

उल्लू एक ऐसा पक्षी है जिसे दिन कि अपेक्षा रात में अधिक स्पष्ट दिखाई देता है। इसके कान बेहद संवेदनशील होते हैं। रात में जब इसका कोई शिकार (जानवर) थोड़ी सी भी हरकत करता है तो इसे पता चल जाता है और यह उसे दबोच लेता हैl इसके पैरों में टेढ़े नाखूनों-वाली चार-चार अंगुलियां होती हैं जिससे इसे शिकार को दबोचने में विशेष सुविधा मिलती हैl चूहे इसका विशेष भोजन हैंl उल्लू लगभग संसार के सभी भागों में पाया जाता हैl


जिन पक्षियों को रात में अधिक दिखाई देता है, उन्हें रात का पक्षी (Nocturnal Birds) कहते हैं। बड़ी आंखें बुद्धिमान व्यक्ति की निशानी होती है और इसलिए उल्लू को बुद्धिमान माना जाता है। हालांकि ऐसा जरूरी नहीं है पर ऐसा विश्वास है। यह विश्वास इस कारण है, क्योंकि कुछ देशों में प्रचलित पौराणिक कहानियों में उल्लू को बुद्धिमान माना गया है। प्राचीन यूनानियों में बुद्धि की देवी, एथेन के बारे में कहा जाता है कि वह उल्लू का रूप धारकर पृथ्वी पर आई हैं। भारतीय पौराणिक कहानियों में भी यह उल्लेख मिलता है कि उल्लू धन की देवी लक्ष्मी का वाहन है और इसलिए वह मूर्ख नहीं हो सकता है। हिन्दू संस्कृति में माना जाता है कि उल्लू समृद्धि और धन लाता है।


मदार-आक, एक औषधीय पौधा

मदार (वानस्पतिक नाम:Calotropis gigantea) एक औषधीय पादप है। इसको मंदार', आक, 'अर्क' और अकौआ भी कहते हैं। इसका वृक्ष छोटा और छत्तादार होता है। पत्ते बरगद के पत्तों समान मोटे होते हैं। हरे सफेदी लिये पत्ते पकने पर पीले रंग के हो जाते हैं। इसका फूल सफेद छोटा छत्तादार होता है। फूल पर रंगीन चित्तियाँ होती हैं। फल आम के तुल्य होते हैं जिनमें रूई होती है। आक की शाखाओं में दूध निकलता है। वह दूध विष का काम देता है। आक गर्मी के दिनों में रेतिली भूमि पर होता है। चौमासे में पानी बरसने पर सूख जाता है।आक के पौधे शुष्क, उसर और ऊँची भूमि में प्रायः सर्वत्र देखने को मिलते हैं। इस वनस्पति के विषय में साधारण समाज में यह भ्रान्ति फैली हुई है कि आक का पौधा विषैला होता है, यह मनुष्य को मार डालता है। इसमें किंचित सत्य जरूर है क्योंकि आयुर्वेद संहिताओं में भी इसकी गणना उपविषों में की गई है। यदि इसका सेवन अधिक मात्रा में कर लिया जाये तो, उल्दी दस्त होकर मनुष्य की मृत्यु हो सकती है। इसके विपरीत यदि आक का सेवन उचित मात्रा में, योग्य तरीके से, चतुर वैद्य की निगरानी में किया जाये तो अनेक रोगों में इससे बड़ा उपकार होता है।


अर्क इसकी तीन जातियाँ पाई जाती है-जो निम्न प्रकार है:


(१) रक्तार्क (Calotropis gigantean): इसके पुष्प बाहर से श्वेत रंग के छोटे कटोरीनुमा और भीतर लाल और बैंगनी रंग की चित्ती वाले होते हैं। इसमें दूध कम होता है।
(२) श्वेतार्क : इसका फूल लाल आक से कुछ बड़ा, हल्की पीली आभा लिये श्वेत करबीर पुष्प सदृश होता है। इसकी केशर भी बिल्कुल सफेद होती है। इसे 'मंदार' भी कहते हैं। यह प्रायः मन्दिरों में लगाया जाता है। इसमें दूध अधिक होता है।
(३) राजार्क : इसमें एक ही टहनी होती है, जिस पर केवल चार पत्ते लगते है, इसके फूल चांदी के रंग जैसे होते हैं, यह बहुत दुर्लभ जाति है।
इसके अतिरिक्त आक की एक और जाति पाई जाती है। जिसमें पिस्तई रंग के फूल लगते हैं।


सेब के जैसा वन बेर

बनबेर या उन्नाव, बेर की जाति का पौधा है और पश्चिम हिमालय प्रदेश, पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिमी सीमा प्रांत, अफगानिस्तान, बलोचिस्तान, ईरान इत्यादि में पाया जाता है। इसकी झाड़ी काँटेदार, पत्ते बेर के पत्तों से कुछ तथा नुकीले, फल छोटी बेर के बराबर और पकने पर लाल रंग के होते हैं। उत्तरी अफगानिस्तान का उन्नाव सर्वोत्कृष्ट होता है। इसका मराठी तथा उर्दू में भी 'उन्नाव' ही नाम है। संस्कृत में इसे सौबीर तथा लैटिन में जिजिफ़स सैटिवा (Ziziphus Sativa) कहते हैं। भारत में सर्दी के प्रारंभ में यह पूरी तरह पक जाता है! 


इस औषधि का उपयोग विशेषकर हकीम करते हैं। इनके मतानुसार इसके पत्ते विरेचक होते हैं तथा खाज, गले के भीतर के रोग और पुराने घावों में उपयोगी हैं। परंतु औषधि के काम में इसका फल ही मुख्यत: प्रयुक्त होता है जो स्वाद में खटमीठा होता है। यह कफ तथा मूत्रनिस्सारक, रक्तशोधन तथा रक्तवर्धक कहा गया है। और खाँसी, कफ और वायु से उत्पन्न ज्वर, गले के रोग, यकृत और प्लीहा (तिल्ली) की वृद्धि में विशेष लाभदायक माना गया है।


पूजा और सजावट के लिए फूल

आधुनिक समय में लोगों ने खेती करने, खरीदने, पहनने या फूलों के इर्द-गिर्द रहने के तरीके ढूंढ लिए हैं, आंशिक रूप से इसलिए कि वे मनचाहे दिखाई देते हैं और उनकी गंध (smell) भी मनचाही होती है। दुनिया भर में लोग फूलों का इस्तेमाल नानविध उपलक्ष्यों और समारोहों में करते हैं जो कि एक के जीवन काल में जमा होकर उसे घेरे रहती है।


नवजात शिशु के अथवा इसाईकरण (Christening) के लिए
पुष्प आभूषण (corsage) अथवा बटनियर (boutonniere) के रूप में सामाजिक समारोहों और छुट्टियों/अवकाशों में पहनते हैं।
प्रेम और अभिमान/सम्मान के चिह्न के रूप में/की निशानी के रूप में
वधु की पार्टी/दावत/समारोह के लिए शादी के फूल और भवन/हॉल की सजावट के लिए
जैस कि घर के अन्दर रोशनी की सजावट
शुभ यात्रा पार्टियों और घर-वापसी की पार्टियों में यादगार उपहार के रूप में अथवा "आप के बारे में सोचते हुए' उपहार.
अंत्येष्ठी (funeral) के लिए फूल और शोक करने वालों के लिए अभिव्यक्ति (sympathy)
इसलिए लोग अपने घर के चारों ओर फूल उगाते हैं, अपना बैठक का कमरे का पुरा भाग पुष्प उद्यान (flower garden) के लिए समर्पित कर देते हैं, जंगली फूलों को चुनते हैं नहीं तो फूलवाले (florist) से फूल खरीदते हैं जो की व्यावसायिक उत्पादको और जहाजियों पर पूर्ण रूप से निर्भर करता है।


फूल, पौधे के मुख्य भागों (बीज, फल, जड़ (root), तना (stem) और पत्तों (leaves) के मुकाबले कम आहार उपलब्ध करा पाते हैं, पर वे कई दुसरे महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थ और मसाले उपलब्ध करा पाते हैं। फूलों की सब्जियों में शामिल है ब्रोकोली (broccoli), फूलगोबी और हाथीचक्र (artichoke). सबसे महंगा मसाला, जाफरानी (saffron), जाफरानी (crocus) के फूल के स्टिग्मा धारण किए हुए रहता है। दुसरे फूलों की नस्लें हैं लौंग (clove) और केपर्स (caper).होप (Hops) फूलों का प्रयोग बियर (beer) में सुगंध के लिए उपयोग किया जाता है। मुर्गियों (chicken) को गेंदे (Marigold) का फूल खिलाया जाता है ताकि अंडे का पीला भाग और सुनहरा पीला हो सके, जो की उपभोक्ताओं को पसंद है। कुक्रौंधे (Dandelion) के फूलों से अक्सर शराब/वाइन बनाई जाती है। मधुमक्खी पराग (Pollen), मधुमक्खियों द्वारा एकत्रित पराग को कुछ लोगों द्वारा स्वास्थ्यवर्धक आहार कहा जाता है। शहद (Honey) में मधुमक्खी द्वारा संसाधित फूल का रस होता है और ज्यादातर उनका नाम फूलों के नाम पर रखा जाता है, उदाहरण के लिए नारंगी (orange) शहद फूल, बनमेथी (clover) शहद, टुपेलो (tupelo) शहद.


सैंकडों फूल भक्षनीय/खाने योग्य होते हैं पर कुछ ही हैं जिन्हें खाद्य के रूप में व्यापक तौर पर बेचा/विपणन किया जाता है। ये अक्सर सलादों में रंग और स्वाद बढ़ाने के लिए किए जाते हैं। स्क्वैश (Squash) फूलों को ब्रेडक्रम्बस में डुबोकर तला जाता है। खाद्य फूलों में शामिल हैं जलइंदुशुर (nasturtium), गुलदाउदी (chrysanthemum), गुलनार (carnation), [[कात्तैल/कटैल/टैफा जाति की कोई भी बारहमासी बूटी जो की किसी भी दलदल वाले इलाकों में पाए जाते हैं, इन्हें रीड मेज़ भी कहा जाता है|कटैल]] (cattail), शहद्चुसक (honeysuckle), कासनी (chicory), [[कोर्नफ्लावर/कोर्नपुष्प/ एक वार्षिक यूरेशियाई पौधा जिसकी खेती उत्तर अमेरिका में की जाती है। इसे कुंवारे का बटन भी कहा जाता है/ इसे बैचलर बटन भी कहा जाता है|मकई का फूल]] (cornflower), देवकली (Canna) और सूर्यमुखी (sunflower). कुछ खाद्य फूल कभी-कभी खुसामद भरे भी होतें हैं जैसे डेसी (daisy) और गुलाब (rose) (हो सकता है आपका किसी बनफशा (pansy) से भी साबिका पड़ जाए)


फूलो को औषधीय चाय (herbal tea) भी बनाया जा सकता है। सुगंध और औषधीय गुण, दोनों के लिए सूखे फूल जैसे की गुलदाउदी, गुलाब और चमेली, कर्पुरपुष्प को चाय में डाला जाता है। कभी-कभी उन्हें भी चाय (tea) पत्ती के साथ सुगंध के लिए मिलाया जाता है।


सिर्फ 2 घंटे 'ग्रीन पटाखे' जलाएं

दिवाली पर सिर्फ़ दो घंटे के लिए रात 8 से 10 बजे तक पटाखे जलाए जा सकेंगे! इसके साथ कोर्ट ने यह भी आदेश दिया है कि त्योहारों में कम प्रदूषण वाले 'ग्रीन पटाखे' ही जलाए और बेचे जाने चाहिए! जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की पीठ ने कहा कि प्रतिबंधित पटाखे बेचे जाते हैं तो संबंधित इलाक़े के थाना प्रभारियों को ज़िम्मेदार ठहराया जाएगा और उन पर अवमानना का मामला चलेगा! सुप्रीम कोर्ट ने जिस 'ग्रीन पटाखों' की बात की है वो आखिर होते क्या है और पारंपरिक पटाखों से वे अलग कैसे होते हैं? दरअसल 'ग्रीन पटाखे' राष्ट्रीय पर्यावरण अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान (नीरी) की खोज हैं जो पारंपरिक पटाखों जैसे ही होते हैं पर इनके जलने से कम प्रदूषण होता है! ग्रीन पटाखे होते क्या हैं? ग्रीन पटाखे दिखने, जलाने और आवाज़ में सामान्य पटाखों की तरह ही होते हैं, लेकिन इनसे प्रदूषण कम होता है!


सामान्य पटाखों की तुलना में इन्हें जलाने पर 40 से 50 फ़ीसदी तक कम हानिकारण गैस पैदा होते हैं! नीरी के चीफ़ साइंटिस्ट डॉक्टर साधना रायलू कहती हैं, "इनसे जो हानिकारक गैसें निकलेंगी, वो कम निकलेंगी! 40 से 50 फ़ीसदी तक कम! ऐसा भी नहीं है कि इससे प्रदूषण बिल्कुल भी नहीं होगा! पर हां ये कम हानिकारक पटाखे होंगे!"डॉक्टर साधना बताती हैं कि सामान्य पटाखों के जलाने से भारी मात्रा में नाइट्रोजन और सल्फ़र गैस निकलती है, लेकिन उनके शोध का लक्ष्य इनकी मात्रा को कम करना था!


ग्रीन पटाखों में इस्तेमाल होने वाले मसाले बहुत हद तक सामान्य पटाखों से अलग होते हैं! नीरी ने कुछ ऐसे फ़ॉर्मूले बनाए हैं जो हानिकारक गैस कम पैदा करेंगे! पानी पैदा करने वाले पटाखेः ये पटाखे जलने के बाद पानी के कण पैदा करेंगे, जिसमें सल्फ़र और नाइट्रोजन के कण घुल जाएंगे! नीरी ने इन्हें सेफ़ वाटर रिलीज़र का नाम दिया है! पानी प्रदूषण को कम करने का बेहतर तरीका माना जाता है! पिछले साल दिल्ली के कई इलाक़ों में प्रदूषण का स्तर बढ़ने पर पानी के छिड़काव की बात कही जा रही थी!
सल्फ़र और नाइट्रोजन कम पैदा करने वाले पटाखेः नीरी ने इन पटाखों को STAR क्रैकर का नाम दिया है, यानी सेफ़ थर्माइट क्रैकर! इनमें ऑक्सीडाइज़िंग एजेंट का उपयोग होता है जिससे जलने के बाद सल्फ़र और नाइट्रोजन कम मात्रा में पैदा होते हैं! इसके लिए ख़ास तरह के केमिकल का इस्तेमाल होता है!
कम एल्यूमीनियम का इस्तेमालः इस पटाखे में सामान्य पटाखों की तुलना में 50 से 60 फ़ीसदी तक कम एल्यूमीनियम का इस्तेमाल होता है! इसे संस्थान ने सेफ़ मिनिमल एल्यूमीनियम यानी SAFAL का नाम दिया है!
अरोमा क्रैकर्सः इन पटाखों को जलाने से न सिर्फ़ हानिकारण गैस कम पैदा होगी बल्कि ये बेहतर खुशबू भी बिखेरेंगे!


महालक्ष्मी पूजन विधि

दीपावली, दिवाली, दीपोत्सव यानी महालक्ष्मी पूजन का शुभ अवसर, इस दिन हम सभी चाहते हैं कि विधि-विधान से पूजन कर मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जाए।  यहां शास्त्रोक्त पौराणिक विधि प्रस्तुत है, आइए सबसे पहले जानते हैं मां लक्ष्मी को क्या पसंद है ...  



1 . देवी लक्ष्मी को पुष्प में कमल व गुलाब प्रिय है।
 
2 . फल में श्रीफल, सीताफल, बेर, अनार व सिंघाड़े प्रिय हैं।
 
3 . सुगंध में केवड़ा, गुलाब, चंदन के इत्र का प्रयोग इनकी पूजा में अवश्य करें। 
 
4 . अनाज में चावल पसंद है। 
 
5 . मिठाई में घर में बनी शुद्धता पूर्ण केसर की मिठाई या हलवे का नैवेद्य उपयुक्त है। 


 
6 . प्रकाश के लिए गाय का घी, मूंगफली या तिल्ली का तेल मां को शीघ्र प्रसन्न करता है। 
 
7 . मां लक्ष्मी को स्वर्ण आभूषण प्रिय हैं। 
 
8 . मां लक्ष्मी को रत्नों से विशेष स्नेह है। 
 
9 . उनकी अन्य प्रिय सामग्री में गन्ना, कमल गट्टा, खड़ी हल्दी, बिल्वपत्र, पंचामृत, गंगाजल, सिंदूर, भोजपत्र शामिल हैं। 
 
10. मां लक्ष्मी के पूजन स्थल को गाय के गोबर से लीपा जाना चाहिए 
 
11. ऊन के आसन पर बैठकर लक्ष्मी पूजन करने से तत्काल फल मिलता है। 
 
अत: इनका लक्ष्मी पूजन में उपयोग अवश्य करना चाहिए।
 कैसे करें लक्ष्मी पूजन की तैयारी 
 
सबसे पहले चौकी पर लक्ष्मी व गणेश की मूर्तियां रखें उनका मुख पूर्व या पश्चिम में रहे। लक्ष्मीजी, गणेशजी की दाहिनी ओर रहें। पूजनकर्ता मूर्तियों के सामने की तरफ बैठें। कलश को लक्ष्मीजी के पास चावलों पर रखें। नारियल को लाल वस्त्र में इस प्रकार लपेटें कि नारियल का अग्रभाग दिखाई देता रहे व इसे कलश पर रखें। यह कलश वरुण का प्रतीक है।दो बड़े दीपक रखें। एक घी का, दूसरा तेल का। एक दीपक चौकी के दाईं ओर रखें व दूसरा मूर्तियों के चरणों में। एक दीपक गणेशजी के पास रखें।मूर्तियों वाली चौकी के सामने छोटी चौकी रखकर उस पर लाल वस्त्र बिछाएं। कलश की ओर एक मुट्ठी चावल से लाल वस्त्र पर नवग्रह की प्रतीक नौ ढेरियां बनाएं। गणेशजी की ओर चावल की सोलह ढेरियां बनाएं। ये सोलह मातृका की प्रतीक हैं। नवग्रह व षोडश मातृका के बीच स्वस्तिक का चिह्न बनाएं।इसके बीच में सुपारी रखें व चारों कोनों पर चावल की ढेरी। सबसे ऊपर बीचोंबीच ॐ लिखें। छोटी चौकी के सामने तीन थाली व जल भरकर कलश रखें। 
 
थालियों की निम्नानुसार व्यवस्था करें- 1. ग्यारह दीपक, 2. खील, बताशे, मिठाई, वस्त्र, आभूषण, चन्दन का लेप, सिन्दूर, कुंकुम, सुपारी, पान, 3. फूल, दुर्वा, चावल, लौंग, इलायची, केसर-कपूर, हल्दी-चूने का लेप, सुगंधित पदार्थ, धूप, अगरबत्ती, एक दीपक।
 
अब विधि-विधान से पूजन करें।  
 
इन थालियों के सामने यजमान बैठे। आपके परिवार के सदस्य आपकी बाईं ओर बैठें। कोई आगंतुक हो तो वह आपके या आपके परिवार के सदस्यों के पीछे बैठे।
चौकी 
(1) लक्ष्मी, (2) गणेश, (3-4) मिट्टी के दो बड़े दीपक, (5) कलश, जिस पर नारियल रखें, वरुण (6) नवग्रह, (7) षोडशमातृकाएं, (8) कोई प्रतीक, (9) बहीखाता, (10) कलम और दवात, (11) नकदी की संदूकची, (12) थालियां, 1, 2, 3, (13) जल का पात्र, (14) यजमान, (15) पुजारी, (16) परिवार के सदस्य, (17) आगंतुक।
महालक्ष्मी पूजन की सरल विधि 
 
समस्त सामग्री एकत्र करने के बाद और सारी तैयारी पूरी होने के बाद कैसे करें महालक्ष्मी की पूजा, जानें यहां 
सबसे पहले पवित्रीकरण करें।आप हाथ में पूजा के जलपात्र से थोड़ा सा जल ले लें और अब उसे मूर्तियों के ऊपर छिड़कें। साथ में मंत्र पढ़ें। इस मंत्र और पानी को छिड़ककर आप अपने आपको पूजा की सामग्री को और अपने आसन को भी पवित्र कर लें।
 
ॐ पवित्रः अपवित्रो वा सर्वावस्थांगतोऽपिवा।
यः स्मरेत्‌ पुण्डरीकाक्षं स वाह्यभ्यन्तर शुचिः॥
पृथ्विति मंत्रस्य मेरुपृष्ठः ग षिः सुतलं छन्दः
कूर्मोदेवता आसने विनियोगः॥
 
अब पृथ्वी पर जिस जगह आपने आसन बिछाया है, उस जगह को पवित्र कर लें और मां पृथ्वी को प्रणाम करके मंत्र बोलें-
 
ॐ पृथ्वी त्वया धृता लोका देवि त्वं विष्णुना धृता।
त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरु चासनम्‌॥
पृथिव्यै नमः आधारशक्तये नमः
 
अब आचमन करें
पुष्प, चम्मच या अंजुलि से एक बूंद पानी अपने मुंह में छोड़िए और बोलिए-
ॐ केशवाय नमः
और फिर एक बूंद पानी अपने मुंह में छोड़िए और बोलिए-
ॐ नारायणाय नमः
फिर एक तीसरी बूंद पानी की मुंह में छोड़िए और बोलिए-
ॐ वासुदेवाय नमः
 
फिर ॐ हृषिकेशाय नमः कहते हुए हाथों को खोलें और अंगूठे के मूल से होंठों को पोंछकर हाथों को धो लें। पुनः तिलक लगाने के बाद प्राणायाम व अंग न्यास आदि करें। आचमन करने से विद्या तत्व, आत्म तत्व और बुद्धि तत्व का शोधन हो जाता है तथा तिलक व अंग न्यास से मनुष्य पूजा के लिए पवित्र हो जाता है।
 
आचमन आदि के बाद आंखें बंद करके मन को स्थिर कीजिए और तीन बार गहरी सांस लीजिए। यानी प्राणायाम कीजिए क्योंकि भगवान के साकार रूप का ध्यान करने के लिए यह आवश्यक है। फिर पूजा के प्रारंभ में स्वस्तिवाचन किया जाता है। उसके लिए हाथ में पुष्प, अक्षत और थोड़ा जल लेकर स्वतिनः इंद्र वेद मंत्रों का उच्चारण करते हुए परम पिता परमात्मा को प्रणाम किया जाता है। फिर पूजा का संकल्प किया जाता है। संकल्प हर एक पूजा में प्रमुख होता है।
संकल्प - आप हाथ में अक्षत लें, पुष्प और जल ले लीजिए। कुछ द्रव्य भी ले लीजिए। द्रव्य का अर्थ है कुछ धन। ये सब हाथ में लेकर संकल्प मंत्र को बोलते हुए संकल्प कीजिए कि मैं अमुक व्यक्ति अमुक स्थान व समय पर अमुक देवी-देवता की पूजा करने जा रहा हूं जिससे मुझे शास्त्रोक्त फल प्राप्त हों। सबसे पहले गणेशजी व गौरी का पूजन कीजिए। उसके बाद वरुण पूजा यानी कलश पूजन करनी चाहिए।


अज्ञानता, अंधकार के विपरीत

दीपावली को विभिन्न ऐतिहासिक घटनाओं, कहानियों या मिथकों को चिह्नित करने के लिए हिंदू, जैन और सिखों द्वारा मनायी जाती है! लेकिन वे सब बुराई पर अच्छाई, अंधकार पर प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान और निराशा पर आशा की विजय के दर्शाते हैं।


हिंदू दर्शन में योग, वेदांत, और सामख्या विद्यालय सभी में यह विश्वास है कि इस भौतिक शरीर और मन से परे वहां कुछ है जो शुद्ध अनंत, और शाश्वत है जिसे आत्मन् या आत्मा कहा गया है। दीवाली, आध्यात्मिक अंधकार पर आंतरिक प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान, असत्य पर सत्य और बुराई पर अच्छाई का उत्सव है।


हिंदू धर्म:दीपावली धन की देवी लक्ष्मी के सम्मान में मनाई जाती है! दीपावली का धार्मिक महत्व हिंदू दर्शन, क्षेत्रीय मिथकों, किंवदंतियों, और मान्यताओं पर निर्भर करता है।


प्राचीन हिंदू ग्रन्थ रामायण में बताया गया है कि, कई लोग दीपावली को 14 साल के वनवास पश्चात भगवान राम व पत्नी सीता और उनके भाई लक्ष्मण की वापसी के सम्मान के रूप में मानते हैं। अन्य प्राचीन हिन्दू महाकाव्य महाभारत अनुसार कुछ दीपावली को 12 वर्षों के वनवास व 1 वर्ष के अज्ञातवास के बाद पांडवों की वापसी के प्रतीक रूप में मानते हैं। कई हिंदु दीपावली को भगवान विष्णु की पत्नी तथा उत्सव, धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी से जुड़ा हुआ मानते हैं। दीपावली का पांच दिवसीय महोत्सव देवताओं और राक्षसों द्वारा दूध के लौकिक सागर के मंथन से पैदा हुई लक्ष्मी के जन्म दिवस से शुरू होता है। दीपावली की रात वह दिन है जब लक्ष्मी ने अपने पति के रूप में विष्णु को चुना और फिर उनसे शादी की।लक्ष्मी के साथ-साथ भक्त बाधाओं को दूर करने के प्रतीक गणेश; संगीत, साहित्य की प्रतीक सरस्वती; और धन प्रबंधक कुबेर को प्रसाद अर्पित करते हैं कुछ दीपावली को विष्णु की वैकुण्ठ में वापसी के दिन के रूप में मनाते है। मान्यता है कि इस दिन लक्ष्मी प्रसन्न रहती हैं और जो लोग उस दिन उनकी पूजा करते है वे आगे के वर्ष के दौरान मानसिक, शारीरिक दुखों से दूर सुखी रहते हैं।


भारत के पूर्वी क्षेत्र उड़ीसा और पश्चिम बंगाल में हिन्दू लक्ष्मी की जगह काली की पूजा करते हैं, और इस त्योहार को काली पूजा कहते हैं। मथुरा और उत्तर मध्य क्षेत्रों में इसे भगवान कृष्ण से जुड़ा मानते हैं। अन्य क्षेत्रों में, गोवर्धन पूजा (या अन्नकूट) की दावत में कृष्ण के लिए 56 या 108 विभिन्न व्यंजनों का भोग लगाया जाता है और सांझे रूप से स्थानीय समुदाय द्वारा मनाया जाता है।


भारत के कुछ पश्चिम और उत्तरी भागों में दीवाली का त्योहार एक नये हिन्दू वर्ष की शुरुआत का प्रतीक हैं।


दीप जलाने की प्रथा के पीछे अलग-अलग कारण या कहानियाँ हैं। राम भक्तों के अनुसार दीवाली वाले दिन अयोध्या के राजा राम लंका के अत्याचारी राजा रावण का वध करके अयोध्या लौटे थे। उनके लौटने कि खुशी में आज भी लोग यह पर्व मनाते है। कृष्ण भक्तिधारा के लोगों का मत है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी राजा नरकासुर का वध किया था। इस नृशंस राक्षस के वध से जनता में अपार हर्ष फैल गया और प्रसन्नता से भरे लोगों ने घी के दीए जलाए। एक पौराणिक कथा के अनुसार विंष्णु ने नरसिंह रूप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था[33] तथा इसी दिन समुद्रमंथन के पश्चात लक्ष्मी व धन्वंतरि प्रकट हुए।


राम का राष्ट्रवाद उपदेश

गतांक से...
 प्रात कालीन भगवान राम पंचवटी में यज्ञ करते थे, नाना राजा और ऋषिजन उनके दर्शनार्थ को प्राय: आते रहते थे! मानव के जीवन में एक सार्थकता का दिग्दर्शन तभी हो सकता है! जब वह मानव अपने में अहिंसा परमो धर्म: ही बन जाए! भगवान राम जब पंचवटी पर रहते थे तो उनके यहां नाना प्राणी क्रीड़ा करते रहते थे! नागराज जैसे प्राणी भी क्रीड़ा करते रहते और भी नाना प्राणी क्रीड़ा करते रहते! परंतु जब अपनी भव्यता में आते तो अपने में मेघराज से वार्ता प्रकट करते रहते हैं! हमें यह दो ही वस्तुओं का निर्णय दे रहा है! हे मानव तू याज्ञिक बन, तू अपने में निर्भय बन, विष्णु-ब्रह्मा बनकर के मानव परमपिता परमात्मा की नीति को जान ले! उसकी प्रतिभा को जान ले! उसके ज्ञान और विज्ञान को जानने वाला बने!वह अपने में उपदेश देते रहते थे! यह अपने में सार्थक बनाने वाला वाक्य है! हम अपने जीवन में प्रत्येक समय में अहिंसा परमो धर्म को अपना करके निर्भयता का पठन-पाठन करते! मानो उसकी कृतिका को हम अपने में ध्यानस्थित होकर के हम स्वतंत्र होकर के विचरण करने वाले बने! राजा वही होता है जो निर्भय रहता है! वह प्रभु की गोद में चला गया है! प्रभु के राष्ट्र में भ्रमण करता रहता है! विचार-विनिमय यह है कि प्रत्येक मानव अपने में महानता का सदैव दिग्दर्शन करता हुआ, अपने जीवन को ऊंचा बनाता रहे! मैं भगवान राम की वही अनूठी चर्चा कर रहा हूं, जहां उनके यहां नाना ऋषिवर अपने में अध्ययन सील बने हुए हैं! वेदों का पठन-पाठन चल रहा है! भयंकर वनों में भगवान राम अपने में प्रतिभासित हो रहे हैं !नाना ऋषिवर अध्ययन कराने वाले, अध्ययन कर आते रहते हैं! वेदों की प्रतिभा में रत रहते हैं! क्योंकि वे अमृत का पान करने वाला प्राणी ही प्रणायाम करता है और प्रणायाम करके अपने सखा के द्वार पर चला जाता है! जहां सखा विद्यमान है भगवान राम पंचवटी पर रहकर के नाना प्रकार के प्राणियों के द्वारा उद्धार के अनेक कर्तव्य परायण के संबंध में विचारते रहते थे! अपना अन्वेषण करते रहते थे! विचार-विनिमय करते रहते थे! भयंकर वनों में भी कुछ समय के पश्चात वहाँ कहीं से प्रातः कालीन एक व्याघ्र आ गया!  व्याघ के आने पर माता सीता ने कहा कि भगवान यह व्याघ्र कहां से आ गया है! उन्होंने कहा कोई प्रेमी होगा, कोई प्राणी वंदना करने के लिए आया हुआ! भगवान राम जब व्याघ्र के समीप पहुंचे तो व्याघ्र अपने वाक्य में अपनी वाणी में वाक्य उच्चारण करने लगे! बेटा प्रत्येक मानव के हृदय में यह आशंका बनी रहती है किस पशु की वार्ता को राजा कैसे स्वीकार करता है! परंतु इसके संदर्भ में यह है कि भगवान राम एक यज्ञ करा रहे हैं और भी यज्ञ हो रहे हैं! उनकी अवहेलना में प्रतिपादित होने वाला 'अप्रवह: वाचप्रवहे: लोकाम्' मेरे प्यारे देखो उन्होंने अपने में 'धाराह प्रवहे रघुऊ संभूति ब्रह्मलोकम वाच प्रहे वस्तुत सुप्रजा: वर्णम ब्रह्मा वाच प्रहे वस्तुतै' जब व्याघ वहां पहुंचा तो भगवान राम अपने में वेदों का अध्ययन कर रहे थे! उनके अध्ययन में जो स्वर ध्वनियां हो रही थी उसको अपने में श्रवण करने लगा? राम बड़े प्रसन्न हुए और उन्होंने व्याघ्र से प्रीति की और ब्याघ से है कहा की हे ब्याघ, तेरा जो यह वचन है यह तेरा राष्ट्र है तेरी राष्ट्रीयता इसमें रहती है! मानो यह हमें बड़ी प्रसन्नता है कि तुम्हारे राष्ट्र में हम भी भ्रमण कर रहे हैं! परंतु तुम भी प्राणी हो हम भी प्राणी है और प्राणी, प्राणी अपने में प्रीति करने वाला बने!


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


October 27, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-84 (साल-01)
2. रविवार ,27 अक्टूबर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन,कृष्णपक्ष, तिथि- अमावस्य (लक्ष्मी पूजा-दीपावली) संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:23,सूर्यास्त 05:53
5. न्‍यूनतम तापमान -20 डी.सै.,अधिकतम-29+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...