मंगलवार, 23 जुलाई 2019

छत्तीसगढ़ के 12 जिले सूखाग्रस्त

छत्तीसगढ़ में अकाल की आहट, 12 जिलों में कम बारिश से सूखे के हालात


छत्तीसगढ़ सहित देशभर में अल्पवर्षा की स्थिति, गिरता भू-जल स्तर और पानी की बर्बादी भीषण जल संकट की ओर ईशारा कर रही है!छत्तीसगढ़ में अल्पवर्षा के कारण अकाल की स्थिति बनती नजर आ रही है! आम लोगों से लेकर किसान भी बारिश नहीं होने से काफी परेशान हैं! तो वहीं राज्य की कांग्रेस सरकार को विपक्षी दल ने इस मुद्दे पर घेरना भी शुरू कर दिया है! मालूम हो कि प्रदेश के 12 जिले और 73 तहसीलों में अल्पवर्षा के कारण सूखे के हालात बनते नजर आ रहे है!


छत्तीसगढ़ सहित देशभर में अल्पवर्षा की स्थिति, गिरता भू-जल स्तर और पानी की बर्बादी भीषण जल संकट की ओर ईशारा कर रही है!मगर तमाम ईशारों के बावजूद धरातल पर कोई ठोस पहल नहीं की जा रही है! आलम ये है कि राज्य सरकार केवल कागजों में चुस्त दिखाई दे रही है, जबकि धरातल पर हकीकत ये है कि छत्तीसगढ़ में 21 लाख हेक्टेयर भूमि में सिंचाई की आवश्कता तो है, लेकिन महज 12 लाख हेक्टेयर में ही सिंचाई हो पाती है! मौजूदा हालात सूखे को लेकर ये है कि राज्य की 73 तहसीलों में सूखे के हालात बन गए है! अब अल्पवर्षा को लेकर किसान से लेकर राजनीतिक दलों ने भी अपनी चिंता दिखानी शुरु कर दी है!किसान और राजनीतिक पार्टियों ने कही ये बात किसानों का कहना है कि बारिश नहीं होने से खेत किसानी का कार्य करने में परेशानी हो रही है! अब बारिश का इंतजार करने के अलावा और कोई चारा नहीं है! वहीं इस मामले में जेसीसी जे सुप्रीमो अजीत जोगी का कहना है कि छत्तीसगढ़ में सबसे बुरा अकाल मंडरा रहा है! उत्तरी हिस्से में बारिश नहीं हो रहा है. इस वजह से धान सूख रहा है! अगर आने वाले दिनों में बारिश नहीं हुई तो सूबे के 2/3 इलाके में सूखे की स्थिति बन सकती है! तो वहीं बीजेपी प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने का कहना है कि छत्तीसगढ़ में अकाल की स्थिति बनी हुई है! किसान परेशान हैं! जिन जिलों में सूखे की आशंका है वहां के लिए सरकार ने कोई ठोस तैयारी और प्लानिंग नहीं की है!


कृषि वैज्ञानिक ने कही ये बात


प्रदेश में सूखे के हालात को लेकर कृषि वैज्ञानिक ने भी अपनी चिंता जताई है! कृषि वैज्ञानिक संकेत ठाकुर मानते हैं कि अभी राज्य में सूखे को लेकर गंभीर हालात है! राज्य सरकार को किसानों के हित में आपातकालीन कदम उठाने की तैयारी करनी चाहिए! तो वहीं सूबे के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे मानते हैं कि आने वाली सभी तकलीफों से निपटने की सारी तैयारी सरकार ने कर ली है!


दिग्गजो की सुरक्षा घटाई: गृह मंत्रालय

 लालू प्रसाद यादव समेत इन दिग्गज नेताओ की सुरक्षा घटाई गई..देखे कौन-कौन नेता है शामिल


नई दिल्ली ! गृह मंत्रालय ने देश के कई बड़े नेताओं को मुहैया कराई जाने वाली सुरक्षा की समीक्षा की है! गृह मंत्रालय द्वारा जारी आदेश के मुताबिक आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, बीएसपी सांसद सतीश चंद्र मिश्रा, यूपी बीजेपी के नेता संगीत सोम, बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रुड़ी की सुरक्षा घटा दी गई है! इसके अलावा केंद्र ने यूपी सरकार के मंत्री सुरेश राणा, एलजेपी सांसद चिराग पासवान, पूर्व सांसद पप्पू यादव की सुरक्षा में भी कटौती की है!


बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव की सुरक्षा घटा दी गई है! लालू प्रसाद के अलावा योगी सरकार में मंत्री सुरेश राणा की सभी सुरक्षा में कटौती की गई है! वहीं बीजेपी सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी की भी सुरक्षा में कमी की गई है! इन नेताओं को केंद्रीय सूची से हटा दिया गया! इनके साथ अब सीआरपीएफ के जवान नहीं रहेंगे! केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान को भी अब वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलेगी!


रविंद्र बंजारे


दीवार के विवाद में एक को गंभीर चोट

लखीमपुर खीरी ! थाना गोला गोकर्णनाथ के अंतर्गत ग्राम भवानीगंज में एक परिवार के तीन लोगों को  जान से मारने का प्रयास किया ! बताते चलें थाना गोला गोकर्ण नाथ के अंतर्गत ग्राम भवानीगंज निवासी लक्ष्मीनारायण यादव पुत्र गया प्रसाद ने बताया कि दीवार को लेकर विवाद हुआ था! मेरा मकान तथा विपक्षियों  का मकान पास - पास है! इससे पहले भी यह दीवार गिर चुकी है ! हम लोगों ने सिर्फ इससे 9 इंची दीवार बनवाने की बात कही थी! इतने में ही बाबूलाल पिता गंगाराम व श्यामा देवी तथा परिवार के अन्य लोगों ने मिलकर लाठी-डंडों से मारा पीटा तथा जान से मारने का प्रयास करने लगे गांव के कुछ लोगों ने हम लोगों को आकर बचाया! पीड़ित व्यक्ति गोला थाना पहुंचा ही था! तब तक चोट लगी उसकी पुत्री मनीषा यादव थाने में बेहोश हो गयी पुलिस ने आनन-फानन में गोला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेज कर उसका इलाज कराया! सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी से मिली जानकारी के अनुसार उन्होंने बताया कि मेरे पास एक ही परिवार के तीन लोग डॉक्टरी कराने के लिए आए हैं! उनके नाम इस प्रकार हैं! लक्ष्मी नारायण पुत्र गया प्रसाद व बंटू यादव पुत्र लक्ष्मी नारायण तथा मनीषा यादव पुत्री लक्ष्मी नारायण ये तीनों चोट खाये हुए पीड़ितों का मैंने इलाज करते हुए डॉक्टरी की है! उसमें दो लोगों के चोटे अधिक नहीं आई है, परंतु एक व्यक्ति के अधिक चोटें आई हुई हैं!


आशीष राठौर 


लापरवाह थानाध्यक्षो को लगी फटकार

एसएसपी ने उत्तरी क्षेत्र के राजपत्रित अधिकारी व थाना प्रभारियों के साथ की बैठक



 लापरवाह थानाध्यक्ष को एसएसपी ने दिया चेतावनी


गोरखपुर। पुलिस लाइन  सभागार  में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गोरखपुर की अध्यक्षता में उत्तरी क्षेत्र के समस्त राजपत्रित पुलिस अधिकारियों एवं थाना प्रभारियों तथा शाखा प्रभारियों की बैठक आयोजित कर अपराध की समीक्षा की गयी एवं अपराध व अपराधियों पर प्रभावी अंकुश लगाये जाने हेतु निर्देश दिये लापरवाह थानाध्यक्षों को फटकार लगाते हुए दिया चेतावनी की जमानत पर छूटे अपराधियों/बदमाशों तथा हिस्ट्रीशीटरों की सूची को अद्यावधि करके उन पर सतत निगरानी रखने तथा बनाये गये टीम (आई-कार्ड अवतार एन्टी-बैट) द्वारा इलेक्ट्रानिक बायोमैट्रिक फिंगर प्रिन्ट कराकर डोजियर तैयार कराया जाय ताकि उनकी अपराधिक गतिविधियों को चिन्हीत किया जा सके। लूट व चोरी की घटनाओं की रोकथाम पर विशेष ध्यान देते हुए यह बताया गया कि अपने-अपने क्षेत्र में भ्रमण कर व्यापारी बन्धुओं द्वारा अपने-अपने दुकानों के सामने लगाये गये सीसीटीवी कैमरों को चिन्हीत कर लें ताकि घटनाओं का शीघ्र अनावरण किया जा सके। समस्त थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया कि वह लम्बित गैर जमानतीय वारण्ट का शत-प्रतिशत तामीला कराना सुनिश्चित करें। समस्त थाना प्रभारियों व चैकी प्रभारी को निर्देशित किया गया कि अपने-अपने क्षेत्र में महिलाओं एवं बच्चों से सम्बधित होने वाले घटनाओं पर सतर्क दृष्टि रखते हुए त्वरित कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। सभी थाना प्रभारी व चौकी प्रभारी अपने-अपने क्षेत्र में भ्रमणशील रहकर पूर्व में बनाये गये नाका प्वाइंट पर पर्याप्त पुलिस बल लगाकर प्रभावी ढंग से कार्यवाही करायें।किसी भी दशा में अवैध शराब का निष्कर्षण एवं बिक्री किसी थाना क्षेत्र में नहीं होना चाहिए! यदि मेरे द्वारा जनपद मुख्यालय से टीम भेजकर यह पाया गया कि किसी थाना क्षेत्र में अवैध शराब का निष्कर्षण अथवा बिक्री हो रहा है! तो सम्बंधित के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी। यातायात व्यवस्था को सुगम व सुचारु रुप से संचालन हेतु अतिक्रमण पर विशेष ध्यान दिया जाय! जहाॅ पर एक बार अतिक्रमण हटवा दिया जाय! स्थानीय थानाध्यक्ष एवं चौकी प्रभारी यह सुनिश्चित करें कि दुबारा वहाॅ अतिक्रमण न होने पाये।


आयकर विभाग ने फिर दी है राहत

राणा ओबराय


आयकर विभाग ने आयकरदाताओं को दी राहत,रिटर्न भरने की अवधि को एक माह बढ़ाया



नई दिल्ली !आयकर विभाग ने आंकलन वर्ष 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न भरने की अंतिम तिथि एक महीने बढ़ाकर 31 अगस्त 2019 कर दी है। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने मंगलवार को यहां जारी बयान में बताया कि जिन करदाताओं के लिए आयकर रिटर्न भरने की अंतिम तिथि 31 जुलाई थी उसे बढ़ाकर 31 अगस्त कर दिया गया है। अंतिम तारीख तक रिटर्न दाखिल नहीं करने पर आयकर विभाग आपको नोटिस भेजता है। इसके बाद आप जवाब देते हैं। अगर अधिकारी आपके जवाब से संतुष्ट नहीं होता है और जांच में साबित होता है कि आपने जानबूझकर टैक्स रिटर्न नहीं भरा है तो तीन माह से दो साल तक की जेल हो सकती है।
देरी का ये होगा नुकसान
तीन माह से सात साल तक की जेल रिटर्न में देरी पर।
एक हजार जुर्माना रिटर्न में देरी पर, पांच लाख से कम आय पर।
पांच हजार जुर्माना 31 जुलाई के बाद और 31 दिसंबर तक रिटर्न भरने पर।
दस हजार जुर्माना 1 जनवरी से 31 मार्च तक रिटर्न भरने पर।


विश्वास मत के बाद गिरी स्वामी की सरकार

*कर्नाटक से इस वक्त की बड़ी खबर* 


विश्वासमत के बाद कर्नाटक में गिरी सीएम कुमारस्वामी की सरकार 


बैंगलुरु ! तमाम उठापटक के बाद आज कर्नाटक सीएम कुमारस्वामी ने विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश किया. कर्नाटक विधानसभा में विश्वासमत पर वोटिंग की प्रक्रिया शुरू हुई और सीएम कुमारस्वामी की सरकार गिर गई! बीजेपी के विधायकों ने विश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोटिंग की! विश्वासमत के खिलाफ 105 वोट पड़े. वहीं पक्ष में 99 वोट ही आए ।


इसी के साथ जल्दी ही एचडी कुमारस्वामी राजभवन जाकर इस्तीफा सौंप सकते हैं! उनके इस्तीफे के बाद सूबे के गवर्नर वजुभाई वाला बीजेपी लीडर बीएस येदियुरप्पा को सरकार गठन का न्योता दे सकते हैं! इससे पहले कुमारस्वामी ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि देखते हैं कि कैबिनेट गठन के बाद आप सरकार को कैसे बचाएंगे? हम देखेंगे कि आप कब तक सरकार चलाएंगे? मैं ही यहीं हूं! उन्होंने कहा कि जब बीजेपी के लोग भागेंगे, इसके बाद चुनाव के लिए जाना बेहतर है! इसके अलावा सीएम एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि सत्ता किसी के लिए भी स्थायी नहीं है! मैं फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार हूं! मैं भाग नहीं रहा हूं! मैं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से कहना चाहता हूं कि देश को बर्बाद मत कीजिए!
बता दें कि 15 बागी विधायकों के इस्तीफे के बाद भी कांग्रेस और जेडीएस सरकार को बचाने के लिए प्रयास कर रहे थे! बीते कई दिनों से दोनों दल विश्वास मत प्रस्ताव को टालने की कोशिश में थे, लेकिन आखिरकार मंगलवार को वोटिंग हुई और कुमारस्वामी की सरकार का यह आखिरी दिन साबित हुआ।


एनडीआरएफ ने सिखाए गुर,दिया प्रशिक्षण

11  एनडीआरएफ की टीम पहुंची जिला सिद्धार्थ नगर जोखिम न्यूनीकरण बाढ़ आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण देने के लिए -


"11  एनडीआरएफ के उपमहानिरीक्षक श्री आलोक कुमार के निर्देशानुसार 11



सिद्धार्थ नगर ! एनडीआरएफ की  टीम दिनांक 22 जुलाई को जोखिम न्यूनीकरण बाढ़ आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण के लिए जिला सिद्धार्थ नगर  पहुंची। सिद्धार्थ नगर  में संभावित आपदा क्षेत्रों के बारे में  टीम कमांडर रोहित कुमार भारद्वाज और जिलाधिकारी श्री दीपक मीणा (आईएएस)  की अध्यक्षता  में सभी  बाढ़ आपदा संभावित  क्षेत्रों के  बारे में चर्चा किया गया । तथा साथ ही साथ  जिले के सभी 14 ब्लॉक बाढ़ आपदा प्रभावित लोगों को बाढ़ आपदा से निपटने के लिए जोखिम न्यूनीकरण बाढ़ आपदा प्रबंधन का प्रशिक्षण देने का फैसला लिया गया।    


बलाक बासी के गांव भगौतापुर  में बाढ़ प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया! कार्यक्रम के दौरान उपजिलाधिकारी परबुद्धि सिंह, आर आई रामवीर यादव, सेवानिवृत्त राकेश तिवारी,कानूनगो ,लेखपाल प्रशांत चौधरी ,अमित चौधरी अमित श्रीवास्तव ,गिरीश श्रीवास्तव, प्रधान राधेश्याम यादव, लेखपाल, आशा वर्कर आपदा मित्र  और गांव भगौतापुर ,डडिया, भटौली, सतवाडी, कोड़री,  सूपाराजा,नगवा, नवइला के लोग भी शामिल रहे । टीम कमांडर रोहित कुमार भारद्वाज सहायक उपनिरीक्षक साभा यादव प्रशिक्षक दीपचंद जयसवाल राहुल रंजन व अन्य प्रशिक्षक ने इस प्रशिक्षण के दौरान बताया कि  बाढ़ आने से पूर्व की तैयारी,बाढ़ आने पर और बाढ़ आने के बाद क्या करना चाहिए इन सभी  का प्रशिक्षण दिया गया। आपदा से प्रभावित व्यक्तियों को अस्पताल ले जाने से पहले  प्राथमिक उपचार क्या दिया जा सकता है! इसके बारे में जानकारी दिया! साथ में घरेलू सिलेंडर में आग लग जाने के उपरांत क्या कार्रवाई करनी चाहिए तथा आकाशीय बिजली के दौरान और सर्पदंश या हार्ड अटैक आ जाए! क्या कार्रवाई करनी चाहिए ,इसके बारे में प्रशिक्षण दिया!


भ्रष्टाचार का नरक निगम बना:ग्वालियर

भ्रष्टाचार का "नरक" निगम ग्वालियर 
ठेंगे पर सूचना का अधिकार ?
घोटाले और भ्रष्टाचार छुपाने की नियत से नहीं देते आरटीआई के तहत जानकारी !
ग्वालियर ! महानगर ग्वालियर को विकसित और स्मार्ट सिटी बनाने की जिम्मेदारी नगर निगम ग्वालियर की है l जहां एक ओर शहर के विकास कार्यों तथा मूलभूत सुविधाओं के लिए करोड़ों रुपया पानी की तरह बहाया जा रहा है तो वहीं दूसरी ओर जिम्मेदार अधिकारी विभिन्न योजनाओं में भ्रष्टाचार और कमीशन खोरी करके अपने घर भर रहे हैं, ग्वालियर नगर निगम में शायद ही ऐसा कोई अधिकारी हो जो करोड़ों और अरबों की आसामी ना हो अब सवाल यह उठता है कि शासन यह सब नजारा आंख बंद कर क्यों देख रहा है और तमाम भ्रष्टाचार विरोधी जांच एजेंसियां भी आखिरकार मूकदर्शक क्यों बनी हुई है ? आखिरकार भ्रष्ट अधिकारियों की शिकायतें जांच के नाम पर लंबित क्यों की जाती है ? यहां यह बताना लाजमी होगा कि दरअसल नगर निगम ग्वालियर निगमायुक्त अनय द्विवेदी के जाने के बाद से आमजन के पसीने का पैसा भ्रष्टाचार करके अधिकारियों के माध्यम से मंत्रियों के घर भरने का अड्डा बन गया है l यह ही नहीं जांच एजेंसियां भी भ्रष्टाचार की शिकायतों को जांच के नाम पर टरका कर शासन की जी हुजूरी कर रही हैं ,तो आखिर ऐसे में भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कौन करें ? नगर निगम ग्वालियर में जो जितना बड़ा भ्रष्ट अधिकारी है उसे उतनी ही बड़ी जिम्मेदारी से नवाजा जाता है इसका सीधा मतलब है कि मामला ऊपर तक सेट है l यही कारण है कि किसी भी योजना और निर्माण के संबंध में आमजन को सूचना का अधिकार के तहत जानकारी देने से बचते हैं नगर निगम के अधिकारी ! 


*यह जानकारी नहीं दे रहे*- विगत दिनों आरटीआई के तहत आवेदक जितेंद्र सिंह नरवरिया के द्वारा नगर निगम से निम्न जानकारी मांगी गई है !  जानकारी उपलब्ध होने पर करोड़ों के भ्रष्टाचार का खुलासा हो सकता है,  जिनकी अपील राज्य सूचना आयोग तक  की जाने के बाद भी जानकारी नहीं दी जा रही है -  
(1) वार्ड क्रमांक 8 व 15 में विगत तथा वर्तमान पंचवर्षीय कार्यकाल में स्वीकृत सभी निर्माण तथा मरम्मत कार्यों के संबंध में जानकारी चाही गई थी जिसमें भ्रष्टाचार होने के कारण उपलब्ध नहीं कराई गई है l
(2) इसी प्रकार आवेदक के द्वारा नगर निगम ग्वालियर में पदस्थ भ्रष्ट इंजीनियरों पवन सिंघल, प्रदीप वर्मा तथा हंसीन अख्तर सहित सभी की पदस्थापना, शैक्षणिक योग्यता व अर्जित चल अचल संपत्ति की जानकारी चाही गई थी जिससे इनके द्वारा किए गए भ्रष्टाचार और काली कमाई की कलई खुल सकती है इसलिए जानकारी नहीं दी जा रही है जबकि यह सब जानकारी शासन के नियमानुसार इन अधिकारियों को वेबसाइट पर डालनी होती है l
(3) आवेदक के द्वारा विगत 1 जनवरी 2014 से 31 दिसंबर 2018 तक 5 वर्षों में विभिन्न आवासीय योजनाओं के तहत आवंटित आवासों की सूची व लाभार्थियों के संबंध में चाही गई जानकारी भी इसलिए उपलब्ध नहीं कराई जा रही है क्योंकि उक्त मामले में भी अधिकारियों ने जमकर रेवडिया बटोरी हैं ?
(4) इसी प्रकार हजीरा चौराहे पर तानसेन प्लाजा के बगल में वर्षों पुराने लाखों की लागत से बने सरकारी शौचालय को विगत दिनों तोड़े जाने के संबंध में जानकारी नहीं दी जा रही है क्योंकि इस मामले में निगम अधिकारी फंसते नजर आ रहे हैं l
(5) आवेदक के द्वारा विगत दिनों नगर निगम ग्वालियर के द्वारा बनाए और तोड़े गए साइकिल ट्रैक के संबंध में भी जानकारी इसलिए नहीं दी जा रही है कि जनता के करोड़ों रुपए की बर्बादी की जिम्मेदारी कौन ले l
उक्त मामले में आवेदक के द्वारा मध्यप्रदेश राज्य सूचना आयोग भोपाल तक अपील की जाने के बावजूद भी जानकारी उपलब्ध नहीं कराई जा रही है इससे स्पष्ट होता है कि वर्तमान कांग्रेस सरकार से सुशासन की उम्मीद करना बेहद नासमझी होगी ?


टैंक में गिरने से मासूम की मौत

टैंक में गिरने से मासूम बच्ची की मौत
          बुलंदशहर। प्रदेश के बुलंदशहर में मंगलवार सुबह उस वक्त मातम छा गया जब कल शाम से गायब एक दो साल की बच्ची का शव घर के ही टैंक में तैरता मिला। जानकारी के अनुसार बच्ची खेलते हुए टैंक में गिर गई थी।   बुलंदशहर के डिबाई नगर के मोहल्ला हसियागंज में सत्येंद्र कुमार के मकान में टैंक का निर्माण हो रहा है। इस बीच उनकी बेटी दिव्यांशी उर्फ परी (2 वर्ष) सोमवार शाम से घर से गायब थी। परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी, पूरी रात उसे ढूंढा लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला। आज सुबह जब टैंक में किसी ने झांका तो बच्ची परी का शव टैंक में तैरता मिला। 
यह खबर जैसे ही घर के अन्य लोगों  तक पहुंची तो कोहराम मच गया। खोई बच्ची इस तरह मिलेगी यह किसी को अंदाजा नहीं था।


सांकरा के जंगलों में देखा गया पैंगोलिन

सांकरा के जंगलों में देखा गया दुर्लभ प्राणी पेंगोलिन, दवा बनाने के लिए की जाती है तस्करी


पिथौरा ! दुलर्भ जीव पैंगोलिन महासमुंद जिले के सांकरा थाना अंतर्गत ग्राम लालमाटी के जंगलों में देखने को मिला! लोगों ने इस पैंगोलिन को पकड़ के एक प्लास्टिक के ड्रम में रख लिया था और फिर उसका विडियो सोशल मिडिया में देखने को मिला! बताया जा रहा है कि गाँव वालों ने वापस इसे जंगल में छोड़ दिया! 


इस वीडियो को जब एसडीओ मयंक पाण्डेय से साझा किया तो उन्होंने इसके पैंगोलिन होने की पुष्टि की और कहा कि इसकी जानकारी पिथौरा वन विभाग को देंगे!यह जीव भारतीय उपमहाद्वीप में केवल कोरबा, अमरकंटक, अंबिकापुर के जंगलों में पाया जाता है! ये बहुत शर्मीले स्वभाव का होता है! गोल, लंबी तथा लसलसी जीभ होती है! इसके शरीर पर बालों के गुच्छे (कैरेटाइन) सख्त होकर सेल में रुपांतरित होकर रक्षा कवच बनाते हैं!


यह जीव खतरे की आशंका को भांपते हुए खुद को कुंडली मार कर छिपा लेता है! भारत में यह प्रजाति संरक्षित है क्योंकि उसे वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 की अनुसूची प्रथम में रखा गया है!


जानकारी के मुताबिक भारतीय पैंगोलिन फिलहाल दुनिया का सबसे ज्यादा तस्करी किया जाने वाला जानवर है! पैंगोलिन का उसके शल्कों और मांस के लिए शिकार किया जाता है! इसका सबसे बड़ा बाजार चीन है! चीन में बड़े पैमाने पर इसके मांस से पौरुष शक्ति दवाएं बनाई जाती हैं!


भूमाफिया कर रहे हैं अवैध कब्जा

लखीमपुर खीरी ! जनपद लखीमपुर खीरी के थाना निघासन में योगी सरकार को ताक पर रख कर भू-माफिया लाचारो व मजबूरों से जबरन जमीन छीनकर अपना कब्जा काबिज कर रहे हैं! बताते चलें कि थाना निघासन के ग्राम सभा दुबहा निवासी मोहम्मद गुलफाम पुत्र मोहम्मद हनीफ ने अपने सगे नाना अलीबक्श पुत्र दुल्ला निवासी दुबहा से दिनांक 11जून अपने घर के पास की जमीन जिसका क्षेत्रफल 6998 वर्ग फीट का बैनामा कराया था! जबकि पीड़ित ने सरकारी मालिक के अनुसार बैनामा तहसील निघासन में सगे नाना को उस जमीन की धनराशि देकर कराया था! परंतु विपक्षी गणों जैसे शमीम बानो पत्नी आबिद निवासी झंडी व यासीन पुत्र इब्राहिम मोबीन पुत्र इब्राहिम तथा अन्य इसी परिवार के लोगों द्वारा इस जमीन पर जबरन कब्जा करना चाहते हैं !कई बार पीड़ित के घर आकर धमकी भी दी! विपक्षियों ने सीधे कहां कि इस जमीन पर कच्चा या पक्का प्रस्ताव किसी प्रकार का किया तो हम लोग आप को जान से मार देंगे! पीड़ित इन बातों को सुनकर बहुत भयभीत हो गया! पीड़ित ने थाना निघासन प्रभारी को प्रार्थना पत्र के माध्यम से आपबीती सुनाई! परंतु वहां से पीड़ित की समस्या का कोई भी समाधान नहीं हुआ! पीड़ित द्वारा उपजिलाधिकारी निघासन को भी जमीन संबंधी सारे प्रकरण की जानकारी दी! परंतु अब तक कोई भी राहत नहीं मिली विपक्षियों द्वारा लगातार पीड़ित व्यक्ति को परेशान किया जा रहा है! जबकि आपको बताते चलें योगी सरकार का फरमान था कि जिसकी जमीन है! उसी को मिलनी चाहिए और जिन भू माफियाओं द्वारा जमीन कब्जा है! उसे हटाया जाए परंतु येसा होता कहीं नहीं दिखाई पड़ा! इससे क्या समझा जाए कि योगी सरकार के फरमान को अधिकारी कर्मचारी कतई मानने को तैयार नहीं है!


आशीष राठौर 


नादान की दोस्ती जी का जंजाल (संपादकीय)


इसे कहते हैं नादान की दोस्ती जी का जंजाल।
कश्मीर मुद्दे पर अमरीका के राष्ट्रपति ट्रंप ने खुद अपना मजाक उड़वाया। 
मोदी ने मध्यस्थता का प्रस्ताव नहीं किया-विदेशी मंत्री।

नई दिल्ली ! भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कई बार ऐसा प्रदर्शित करते हैं कि दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी उनके दोस्त हैं। पिछले दिनों ही जब दोनों की मुलाकात हुई तब भी ऐसा ही दर्शाया गया, लेकिन शायद मोदी यह भूल गए है कि डोनाल्ड ट्रंप पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा जैसे अक्लमंद और अंतर्राष्ट्रीय राजनीति को समझने वाले नहीं है। जब ज्यादा दोस्ताना होता है तो इधर-उधर की बातें भी होती हैं। इधर-उधर की बातों को लेकर ही 22 जुलाई को ट्रंप ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से कह दिया कि कश्मीर के मुद्दे पर भारत के प्र्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनसे मध्यस्थ की भूमिका निभाने की बात कही है। ट्रंप ने यह बात मीडिया के सामने कहीं, इसलिए बात का बतंगड़ बन गया। ट्रंप के बयान से जहां पाकिस्तान और प्रधानमंत्री इमरान खान खुश हो गए, वहीं भारत ने कड़ा ऐतराज जताया। भारत के विदेश मंत्रलाय ने साफ कहा कि पीएम मोदी ने कभी कश्मीर मुद्दे पर ट्रंप को मध्यस्थता करने के लिए नहीं कहा। भारत ने अमरीका प्रशासन के सामने भी विरोध जताया। यही वजह रही कि अमरीका के विदेश मंत्रालय को भी कहना पड़ा कि कश्मीर का मुद्दा भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय है। अमरीका ने बयान जारी कर कहा दिया कि वह कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता नहीं करेगा। 22 जुलाई को जिस तरह ट्रंप ने मध्यस्थता की बात कही उससे यही प्रतीत होता कि मोदी के लिए नादान की दोस्ती जी का जंजाल है। असल में ट्रंप के पास भारत और पाकिस्तान के बीच विवाद को समझने की अक्ल ही नहीं है। मोदी ने हाल में लोकसभा का चुनाव राष्ट्रवाद के मुद्दे पर ही जीता है और इसमें कश्मीर समस्या अहम है। भारत पहले भी कह चुका है कि पाकिस्तान की शह पर ही कश्मीर में आतंकी गतिविधियां हो रही हैं। कश्मीर के अलगाववादियों की कमर तोडऩे के लिए अनुच्छेद 370 को हटाने की कोशिश भी की जा रही है। 
संसद में हंगामा:
23 जुलाई को लोकसभा और राज्यसभा में इसी मुद्दे को लेकर हंगामा हुआ। कांग्रेस की ओर से मांग की गई कि डोनाल्ड ट्रंप के बयान का खंडन स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आकर करें। लेकिन सरकार की ओर से विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बयान दिया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर ट्रंप से मध्यस्थता करने के लिए कभी नहीं कहा। कश्मीर का मुद्दा दोनों देशों की आपसी बातचीत से ही सुलझ सकता है और यह तभी संभव है जब पाकिस्तान सीम पार से आतंकवाद बंद करें। 
मोदी को थरूर का साथ:
कांग्रेस ने भले ही संसद के दोनों सदनों में हंगामा किया, लेकिन कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद शशि थरूर ने प्रधानमंत्री मोदी का बचाव किया है। संसद के बाहर थरूर ने मीडिया से कहा कि नरेन्द्र मोदी कभी भी डोनाल्ड ट्रंप के समक्ष मध्यस्थता का प्रस्ताव नहीं कर सकते हैं। थरूर ने कहा कि कश्मीर मुद्दा ट्रंप के समझ में नहीं आ रहा है, इसलिए इस तरह का बयान दिया है।
एस.पी.मित्तल


तीन हजार मदरसों में पढ़ाई ठप:राजस्थान


राजस्थान में सरकारी मदद से चलने वाले तीन हजार मदरसों में पढ़ाई ठप।
पैराटीचर्स हड़ताल पर। कांग्रेस सरकार पर वायदा खिलाफी का आरोप। 
29 जुलाई को विधानसभा घेराव।

जयपुर ! राजस्थान में सरकारी मदद से चलने वाले तीन हजार से भी ज्यादा मरदसों में 22 जुलाई से कामकाज ठप हो गया है। इन मदरसों में पढऩे वाले कोई डेढ़ लाख बच्चे पढ़ाई के साथ साथ पोषाहार से भी वंचित हो गए हैं। सरकार ने इन दिनों खसरा रूबेला के टीके लगाने का अभियान चला रखा है, लेकिन मदरसों के बच्चे इन टीकों से भी वंचित हैं। राजस्थान मदरसा शिक्षा सहयोगी संघ के बैनर तले 22 जुलाई से सात हजार मदरसा पैरा टीचर्स हड़ताल पर चले गए हैं। मदरसों के शिक्षकों में इस बात को लेकर गुस्सा है कि राज्य की कांग्रेस सरकार ने अपने चुनावी वायदे को पूरा नहीं कर रही है। दिसम्बर 2018 में हुए विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में मदरसा पैरा टीचर्स को नियमित करने का वायदा किया था। लेकिन कांग्रेस की सरकार बन जाने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट शिक्षकों से संवाद तक नहीं कर रहे हैं। सरकार के इस रुख की वजह से ही प्रदेश भर के मदसा टीचर को हड़ताल पर जाना पड़ा है। संघ के प्रदेश अध्यक्ष आजम खान ने बताया कि मौजूदा समय में मदरसा टीचर को 7 से 9 हजार रुपए तक का पारिश्रमिक मिल रहा है। जबकि हमारे शिक्षक राज्य सरकार के नियमित शिक्षकों की तरह पोषाहार से लेकर मतदाता सूची तक का कार्य करते हैं। इस परिश्रमिक को हासिल करने के लिए भी प्रति वर्ष वित्तीय विभाग से अनुमति लेनी होती है। कई शिक्षक तो अपने गृह जिले से दूसरे जिलों में नियुक्त है, जिन्हें 9 हजार रुपए में ही गुजारा करना होता है। ऐसे शिक्षक गत 20 वर्षों से मामूली पारिश्रमिक पर काम कर रहे हैं। खान ने कहा कि अब जब तक सरकार हमारी मांगे नहीं मानेगी तब तक हड़ताल जारी रहेगी। उन्होंने सुझाव दिया कि यदि मदरसा पैरा टीचर्स को स्थाई नियुक्ति देने में कोई तकनीकी अड़चन है तो टीचर्स का पारिश्रमिक 25 हजार रुपए प्रतिमाह कर दिया जाए। खान ने कहा कि कांग्रेस ने जब वायदा कर चुनाव जीता है तो अब सरकार बनने पर इस वायदे को पूरा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में 23 जुलाई को लगातार दूसरे दिन भी मदरसा टीचर हड़ताल पर रहे। जिला मुख्यालयों पर पैरा टीचर रोजाना प्रदर्शन कर रहे हैं। आगामी 29 जुलाई को प्रदेश भर के मदरसा टीचर जयपुर में विधानसभा का घेराव करेंगे। सभी शिक्षकों को 29 जुलाई को जयपुर पहुंचने के लिए कहा गया है। हड़ताल के संबंध में और अधिक जानकारी मोबाइल नम्बर 9413062974 पर आजम खान से ली जा सकती है।
एस.पी.मित्तल


सूख गया बीसलपुर बांध,कहां है नेतानगरी


बरसात नहीं हुई तो क्या होगा अजमेर में पेयजल संकट का? 
31 जुलाई के बाद कहां से लाएंगे पानी?
सूख गया बीसलपुर बांध। कहां है भाजपा और कांग्रेस के नेता?



अजमेर ! सवाल यह है कि यदि बरसात नहीं हुई तो 31 जुलाई के बाद अजमेर में पीने का पानी कहां से आएगा? अजमेर जिले का एक मात्र स्त्रोत बीसलपुर बांध है। इस बांध से ही जयपुर, टोंक और दौसा जिले में पेयजल की सप्लाई की जा रही है। यही वजह है कि 31 जुलाई के बाद बांध में पानी नहीं बचेगा? अब जब मात्र दो दिन का पानी शेष रहा है तब राज्य सरकार के जलदाय विभाग के इंजीनियरों ने कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की है। क्या 31 जुलाई के बाद अजमेर जिले के लोग प्यासे मर जाएंगे? अजमेर में पहले ही तीन चार दिन में एक बार और ग्रामीण क्षेत्रों में दस दिन में एक बार मात्र 45 मिनट के लिए पेयजल की सप्लाई की जा रही है। बीसलपुर बांध का भराव क्षेत्र चित्तौड़ के आसपास के क्षेत्र हैं। लेकिन अभी तक भी यहां पर्याप्त मात्रा में बरसात नहीं हुई है, इसलिए बांध में बरसात का पानी नहीं के बराबर आया है। इस समय प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है और अजमेर जिले से कांग्रेस के दो विधायक हैं। एक रघु शर्मा जो प्रदेश के चिकित्सा मंत्री भी हैं और दूसरे मसूदा के राकेश पारीक। लेकिन सत्तारूढ़ पार्टी के इन दोनों विधायकों ने अभी तक भी पेयजल संकट पर अपनी चिंता प्रकट नहीं की है और न ही जलदाय विभाग के इंजीनियरों से कोई सीधा संवाद किया है। हालांकि रघु शर्मा सरकार में ताकतवर मंत्री हैं, लेकिन पेयजल संकट पर उन्होंने भी चुप्पी साध रखी है। शायद हाल ही के लोकसभा चुनाव में करारी हार की वजह से कांग्रेस के विधायक नाराज हैं। जहां तक भाजपा के पांच विधायकों का सवाल है तो विपक्ष में होने का बहाना कर अपनी जिम्मेदारी से बच रहे हैं। भाजपा विधायकों का कहना है कि चम्बल नदी का पानी भीलवाड़ा से बीसलपुर बांध तक लाने के लिए गत भाजपा सरकार ने 600 करोड़ रुपए की योजना बनाई थी, लेकिन कांग्रेस सरकार ने बजट में इस योजना के लिए एक रुपया भी स्वीकृत नहीं किया है। कांग्रेस और भाजपा अपनी अपनी राजनीति की वजह से अजमेर के लोगों के सामने प्यासे मरने की स्थिति आ गई है। कोई भी यह बताने का तैयार नहीं है यदि 31 जुलाई तक बरसात का पानी बीसलपुर में नहीं आया तो फिर अजमेर में पानी की सप्लाई कहां से होगी? बीसलपुर बांध के अलावा अजमेर में ऐसा कोई जल स्त्रोत नहीं है जहां से पेयजल की सप्लाई हो सके। असल में अजमेर को प्यास मारने के पीछे सरकारों की भेदभाव पूर्ण नीति रही है। गत वर्ष भी वर्षा कम होने की वजह से बीसलपुर बांध पूरा नहीं भरा था। लेकिन सरकारों ने अजमेर में तो कटौती कर तीन दिन में एक बार पेयजल की सप्लाई कर दी, जबकि जयपुर में रोजाना सप्लाई को जारी रखा गया। यह क्रम भाजपा के शासन से शुरू हुआ जो दिसम्बर 2018 से कांग्रेस के शासन में भी जारी रहा। यदि जयपुर में भी अजमेर की तरह कटौती की जाती तो बांध में पानी को बचाया जा सकता था। अजमेर की जनता भी धन्य है जो बीसलपुर बांध के सूख जाने पर भी खामोश है।
एस.पी.मित्तल


पुलिस:सख्ती अपराध पर लगाएगीअंकुश

प्रतापगढ़ ! आधा दर्जन से अधिक चोरियों के साथ ही एक लूट का कुंडा पुलिस ने किया खुलासा। कुंडा कोतवाल देवेंद्र प्रताप सिंह के नेतृत्व में एसएसआई सुरेश चौहान ने गश्त के दौरान देर रात चौसा गैस एजेंसी के पास से। सुनील कुमार उर्फ भोला विश्वकर्मा को किया 12 बोर के तमंचे दो जिंदा कारतूस एवं 750 ग्राम चांदी 2 तोला सोना ₹5000 नगद के साथ किया गिरफ्तार। अपने चार अन्य साथियों के साथ कुंडा क्षेत्र में आठ चोरी एक लूट कर चुका है! सुनील कुमार उर्फ भोला विश्वकर्मा। किसी बड़ी लूट करने की फिराक में था!


रुपेन्द्र शुक्ला 


तराई इलाकों में बारिश की संभावना:अलर्ट

पश्चिम चंपारण ! नेपाल के तराई इलाकों एवं पश्चिम चंपारण जिले में 23 एवं 24 तारीख को भारतीय मौसम विभाग के द्वारा भारी वर्षापात होने का अलर्ट दिया गया है। बरसात की संभावना को देखते हुए  जिला प्रशासन सकते में है! आनन-फानन में आवश्यक प्रयास किए जा रहे हैं! बरसात  की संभावना जरूर है! लेकिन यह आवश्यक नहीं है कि बारिश ज्यादा हो,  लेकिन उसके बावजूद भी सूचना के तहत आवश्यक कार्रवाई करना बड़ी चुनौती बन गई है! जिसके चलते  जिलाधिकारी के निर्देशन में  यह बचाव और राहत कार्य  शुरू कर दिया गया है! इस तैयारी हेतु सभी SDO, अंचल अधिकारी, BDO, CDPO के साथ आज VC के माध्यम से निर्देश दिया गया। बाढ़ आने वाली सभी संभावित पंचायतों में राहत शिविरों, सामुदायिक रसोई का संचालन किया जाएगा।


स्वास्थ्य मंत्री के घूस लेने का मामला:रांची

सदन में हंगामा, स्वास्थ्य मंत्री के घूस लेने के मामले की जांच की मांग


रांची। झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन मंगलवार को सदन की कार्यवाही शुुरू होते ही हंगामा होने लगा। स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी के घूस लेने के कथित वीडियो के वायरल होने को लेकर विपक्ष के नेता सदन में हंगामा करने लगे। झामुमो ने इसकी जांच की मांग की। दूसरी तरफ स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने कहा कि घूस लेने का आरोप प्रमाणित हुआ तो वे त्यागपत्र दे देंगे। इसी दौरान हंगामा करते हुए झामुमो के विधायक वेल में पहुंचे गए। नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने अपने ऊपर सीएनटी के विरुद्ध खरीदी गई जमीन की जांच के लिए गठित एसआइटी की रिपोर्ट सदन में रखने की मांग की। उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष पर आरोप लग रहा है। इसलिए इसकी रिपोर्ट सदन में रखी जाए।


इधर, सदन के बाहर कांग्रेस और झामुमो के विधायक अपनी विभिन्न मांगों को लेकर धरना पर बैठ गए। वे झारखंड को सूखाग्रस्त घोषित करने और राहत कार्य चलाने की मांग करने लगे। स्वास्थ्य मंत्री को हटाने की भी मांग की। प्रदर्शन के दौरान विपक्ष के नेता मॉब लिंचिग, फसल बीमा का अविलंब भुगतान, राज्य में 24 घंटे बिजली को लेकर भी रघुवर सरकार को घेर रहे थे। धरना-प्रदर्शन कर रहे नेताओं में कांग्रेस के सुखदेव भगत, जेएमएम विधायक कुणाल षाड़ंगी व बसपा विधायक कुशवाहा शिव पूजन मेहता के अलावा, मनोज यादव, हेमंत सोरेन, जगरन्नाथ महतो, फुरकान अंसारी आदि मुख्य रूप से शामिल हैं।


रिश्वत लेते दबोचा कर्मचारी : एसीबी

ACB ने 3 हजार रुपये रिश्वत लेते पूर्वी टुंडी अंचल के राजस्व कर्मचारी को दबोचा


धनबाद। भ्रष्टाचार विरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने धनबाद जिले के पूर्वी टुंडी अंचल के राजस्व कर्मचारी रमेश सिंह को तीन हजार रुपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। सिंह दाखिल-खारिज कराने के लिए अंचल अधिकारी के नाम पर रिश्वत ले रहे थे।


पूर्वी टुंडी अंचल के घुरनी बेड़ा, सुंदरपहाड़ी निवासी राकेश कर्मकार ने एसीबी से राजस्व कर्मचारी की शिकायत की थी। कर्मकार ने शिकायत में कहा था कि उसने 2017 में जमीन खरीदी। उसका दाखिल-खारिज कराने के लिए आवेदन दिया था। आवेदन को राजस्व कर्मचारी दाब कर रखे थे। साथ ही दाखिल-खारिज करने के लिए 16 हजार रुपये की मांग की। राजस्व कर्मचारी का कहना था कि अंचल अधिकारी को भी देना पड़ता है। अंत में राजस्व कर्मचारी 9 हजार रुपये रिश्वत लेकर दाखिल-खारिज करने को तैयार हुए। हालांकि राकेश कर्मकार इसके लिए तैयार नहीं थे। उन्होंने एसीबी से शिकायत की। इसके बाद एसीबी ने जाल बिछाया। और राकेश से रिश्वत की पहली किश्त 3 हजार रुपये लेते हुए रमेश को मंगलवार को एसीबी ने धर दबोचा। रमेश पूर्वी टुंडी अंचल कार्यालय से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार करने के बाद एसीबी ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस निरीक्षक जुल्फिकार अली को अनुसंधानकर्ता बनाया गया है।


वज्रपात ने ली एक और जान:गढ़वा

वज्रपात से अशर्फी की मौत


संवाददाता-विवेक चौबे


गढ़वा ! जिले के कांडी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम-जयनगरा निवासी- रामजी मेहता के पुत्र-अशर्फी मेहता की मौत हो गयी।मौत का कारण वज्रपात बताया जा रहा है।उक्त घटना सोमवार दो बजे की है।परिजनों के अनुसार अशरफी भैंस चराने गांव से दो किमी दूर चाचर नामक स्थान पर गया था।भैंस चराने के क्रम में ही जोरों से गर्जन के साथ वज्रपात हुआ,जिससे की मौके पर ही उसकी मौत हो गयी।उस वक्त अशरफी के परिवार भी वहां मौजूद थे,किन्तु उसके अलावे किसी को कुछ नहीं हुआ।बाल-बाल बचे लोग।बता दें की अशरफी अत्यंत निर्धन परिवार से था।उसी के सहारे ही तो उसके वृद्ध माता-पिता सहित पत्नी व छोटे-छोटे बच्चों का पालन-पोषण हुआ करता था।वज्रपात से अशरफी की मौत की खबर सुन ग्रामीणों की भीड़ लग गयी।गांव में सन्नाटा सा छा गया।परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है।उक्त घटना की सुचना पाकर कांडी थाना एसआई-ददन साह अपने दल-बल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे।उन्होंने पोस्टमार्टम के लिए शव को गढ़वा भेज दिया।वहीँ विधायक प्रतिनिधि-अजय सिंह व अंचलाधिकारी-राकेश सहाय मौके पर पहुंचकर रोते-बिलखते परिजनों को ढांढस बंधाया।श्री सिंह ने कहा की सरकारी लाभ परिवार को दिया जाएगा।मौके पर- बजरंगी मेहता,भरत मेहता,एसपी सिंह,कमलेश मेहता,अनिल मेहता,जयप्रकाश मेहता सहित काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।वहीँ दूसरे तरफ ग्राम-मोखापि निवासी-गोविन्द यादव की एक गाय व एक बैल की मौत की भी खबर मिली।


नाग-पंचमी:उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

संवाददाता – योगेन्द्र द्विवेदी 
अलवर,गोविंदगढ़! नाग पंचमी का पर्व सोमवार को आस्था व श्रद्धा के साथ धूमधाम से मनाया, इस दिन शिवालयों में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा रहा था व घंटे घड़ियालों की आवाजें और शंखनाद की गूँज गूँजती रही थी। प्रभात समय मे संगीत मय प्रभात फैरी निकाली गई, जिसमे ग्रामीणो ने बधाई चढ कर भाग लिया,  यह पर्व धार्मिक परम्पराओ के अनुसार मनाया जाता है।  
सावन के पहले सोमवार के अवसर पर कस्बे के महादेव शिवालय में भी शिवभक्तों व महिलाओं की दिन भर भीड़ भाड़ बनी रही थी ।
कस्बे सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी सावन के पहले सोमवार के अवसर विभिन्न शिवालयों व मंदिरों में शिवभक्तों व श्रद्धालुओं सहित महिलाओं की भी भीड़ उमड़ पड़ी थी।
 इस पर्व पर महिलाएं लाल लहरिया की चुनरी व साड़ी पहनकर सजधजकर बगीचियों या जंगलो की ओर जाकर सर्पों व नागों की बांबियों एवं झाड़ियों के पास सामूहिक रूप से पूजा अर्चना कर नाग देवता के लिए अंकुरित चने व दूध का प्रसाद चढ़ाकर सुख समृद्धि की कामनाएं की ।


रामबास, में स्थित शिवालय में पूजा अर्चना करती श्रद्धालु महिलाएँ।


फर्जी आईपीएस अधिकारी गिरफ्तार:मोतिहारी

मोतिहारी होटल से फर्जी आइपीएस अधिकारी गिरफ्तार


 युवकों से नौकरी के नाम पर ठगता था पैसा


दर्जनों बेरोजगार युवकों से अबतक ठग चुका है 30 लाख
 
मोतिहारी ! शहर के मीना बाजार गांधी चौक स्थित एक आवासीय होटल से फर्जी आईपीएस अधिकारी पकड़ा गया! नगर पुलिस ने सूचना के आधार  पर छापेमारी कर उसे  गिरफ्तार किया लिया! उसके पास से आईपीएस ऑफिसर आईकार्ड, आधार कार्ड, पर्स व दो सेलफोन  बरामद हुए हैं! वह रक्सौल के कौड़िहार चौक का प्रकाश कुमार मिश्रा है! खुद को आईपीएस अधिकारी बता बेरोजगार युवकों से गार्ड की नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी कर रहा था!अबतक दो दर्जन से अधिक  युवकों से करीब 30 लाख रुपये से अधिक की ठगी कर चुका है!
 
  नगर इंस्पेक्टर अभय कुमार ने बताया कि ठगी के शिकार पताही थाने के बेलाबैजू गांव के शिवम कुमार ने थाने पर पहुंच उसकी पहचान की! बताया  कि एक दोस्त के माध्यम से प्रकाश से उसकी जान-पहचान हुई! प्रकाश ने खुद को आईपीएस बताते हुए अपना आईकार्ड दिखाया! उसने नौकरी दिलाने की बात कही! इसके एवज में 20 हजार रुपये लिया और गार्ड की नौकरी दिलायी!
 
उसके साथ दोस्त मृत्युंजय भी 45 दिनों तक गार्ड की नौकरी की. मानदेय नहीं मिला तो दोनों ने काम छोड़ दिया! उसने आगे बताया है कि उनके तरह कई लड़के उसके चंगुल में फंस उसके पास गार्ड की नौकरी की! पैसा वापस मांगने पर कार्ड दिखा पुलिस को बुला जेल भेजने की धमकी देता था! नगर इंस्पेक्टर ने बताया कि शिवम के आवेदन के आधार पर प्राथमिकी दर्ज कर उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है!


अखिलेश सुरक्षा से ब्लैक-कैट कमांडो हटाए

लखनऊ ! केंद्र सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सुरक्षा हटायी ।ब्लैक कैट कमांडो के घेरे में अब नहीं चलेंगे अखिलेश!सुरक्षा में लगे सभी NSG कमांडो वापस बुलाये गये!2012 में केंद्र की तत्कालीन काँग्रेस सरकार ने मुख्यमंत्री बनते ही अखिलेश यादव को दी थी NSG सुरक्षा!केंद्र की सुरक्षा समिति ने समीक्षा के बाद अखिलेश यादव को सुरक्षा के लिये अनुपयुक्त पाया !गृह मंत्रालय से की सुरक्षा वापस लेने की सिफारिश ! भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने सुरक्षा वापस लिये जाने के फैसले की सूचना यूपी सरकार को भेजी ।


पतंजलि पर लग सकता है,करोड़ों का जुर्माना

पतंजलि पर लग सकता है 3 करोड़ का जुर्माना


नई दिल्ली ! योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि एक बार फिर विवादों में फंसती हुई नज़र आ रही है। अमेरिकी स्वास्थ्य नियामक यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (यूएसएफडीए) की एक रिपोर्ट में पतंजलि द्वारा शर्बत के दो ब्रांड्स पर भारत और अमेरिका में अलग-अलग गुणवत्ता को उजागर किया गया है।


इस वजह से अमेरिकी खाद्य विभाग पतंजलि आयुर्वेद कंपनी के खिलाफ केस दर्ज करने पर विचार कर रहा है। दोषी पाए जाने पर कंपनी पर करीब 3 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक पतंजलि आयुर्वेद कंपनी के दो शर्बत ब्रांड में अलग-अलग दावे किए गए हैं।


कंपनी के भारत में बेचे जाने के लिए शर्बत उत्पादों के लेबल पर अलग दावे किए गए है, जबकि अमेरिका निर्यात किए जाने वाले शरबत में अलग दावे हैं। यदि पतंजलि के खिलाफ आरोप सही पाए गए तो आपराधिक मुकदमा और पांच लाख अमेरिकी डॉलर तक का जुर्माना लग सकता है। यही नहीं, कंपनी के अधिकारियों को तीन साल की सजा हो सकती है।


पीने के लिए आधा गिलास पानी:जल-संरक्षण

लखनऊ ! उत्तर प्रदेश विधानसभा परिसर में जल संरक्षण को लेकर एक अनोखी पहल की गई है। यहां के सचिवालय और विधानसभा परिसर में हर किसी को अब सिर्फ आधा गिलास पानी दिया जाएगा। आधा गिलास पानी पीने के बाद अगर और प्यास लगती है तो फिर से पानी मांगा जा सकता है। विधानसभा सचिवालय के प्रमुख सचिव प्रदीप दुबे की ओर से इसका आदेश जारी किया गया है।
हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में लोगों से जल संरक्षण की अपील की थी। पीएम की अपील को यूपी विधानसभा अध्यक्ष ने गंभीरता से लिया और उन्होंने विधानसभा परिसर में आधा गिलास पानी देने वाला नियम बनाया है।
प्रदीप दुबे की तरफ से जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि ऐसी व्यवस्था विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित की मंशा पर जारी किया गया है। यह व्यवस्था जल संरक्षण के लिए की जा रही है। आदेश में कहा गया है कि अकसर पूरा गिलास पानी लोग नहीं पीते और बाकी पानी बर्बाद होता है।


एसडीएम सदर ने किया पीएचसी का निरीक्षण

 डीएम बीएन सिंह के निर्देश पर एसडीएम सदर ने किया पीएचसी चीती और खेरली हाफिजपुर का निरीक्षण, निरीक्षण के दौरान पीएचसी में मचा हड़कम्प


 



गौतमबुद्दनगर ! जिलाधिकारी ब्रजेश नारायण सिंह के निर्देशन मे उप जिलाधिकारी सदर प्रसून द्विवेदी ने शिकायतों के आधार पर मंगलवार को दनकौर क्षेत्र के प्राथमिक चिकित्सा केंद्र चीती और खेरली हाफिजपुर का औचक स्थलीय निरीक्षण किया। उप जिलाधिकारी के निरीक्षण दौरान दोनों प्राथमिक चिकित्सा केंद्रो पर अव्यवस्था पायी गयीं। चीती पीएचसी पूरी तरह बंद पाया गया। वहाँ पर कोई भी डाक्टर या फार्मिस्ट मौके पर मौजूद नही पाया गया। वहाँ पर सिर्फ चौकीदार ही मौजूद था, उसने उप जिलाधिकारी सदर को बताया कि वो कभी कभार मरीजों को दवा दे देता है। उप जिलाधिकारी सदर के निरीक्षण के लिए पहुँचते ही चौकीदार द्वारा जल्दी जल्दी कमरों के ताले खोले जाने लगे। इसी प्रकार खेरली हाफिजपुर पीएचसी पर भी डाक्टर और फार्मिस्ट मौजूद नही थे। वहाँ पर इलाज के लिए कई मरीज मौजूद थे। लेकिन उनके इलाज करने के लिए वहाँ कोई भी मौजूद नही था। और चीती पीएचसी के डाक्टर अपने सेन्टर को बंद करके खेरली हाफिजपुर के पीएचसी पर थे। उप जिलाधिकारी सदर के दोनों पीएचसी के निरीक्षण के दौरान वहाँ हड़कम्प मच गया। उप जिलाधिकारी सदर प्रसून द्विवेदी ने बताया कि चीती और खेरली हाफिजपुर पीएचसी के सम्बन्ध शिकायत मिल रही थी, जो आज निरीक्षण के दौरान सही पायी गयीं। दोनों पीएचसी पर काफी अव्यवस्था पायीं गयी,और कोई भी डाक्टर या फार्मिस्ट मौके पर नही पाया गया। अनुपस्थित पाये जाने वाले डाक्टर और फार्मिस्ट के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही करायी जा रही हैं!


समाज कल्याण विभाग की बड़ी कार्रवाई

 डीएम बीएन सिंह के निर्देश पर सोशल सेक्टर की योजनाओं का लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से समाज कल्याण विभाग की बड़ी कार्यवाही, 2 ग्रामों में शिविर किया गया आयोजन, पेंशन की गई स्वीकृत, योजनाओं के संबंध में दी गई जानकारी


गौतम बुध नगर ! उत्तर प्रदेश शासन के निर्देश के क्रम मे सभी पात्र व्यक्तियों को पेंशन की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जिलाधिकारी बी. एन. सिंह के निर्देशन मे जनपद गौतबुद्दनगर के ग्राम दलेलगंज विकास खंड दनकौर एवं ग्राम गढी चौखंडी विकास खंड विशरख मे कल दिनांक 22 जुलाई को एकीकृत पेंशन शिविर का आयोजन  किया गया । शिविर आयोजन से पूर्व शिविर की तिथि, स्थान, एवं उद्देश्यों का व्यापक प्रचार प्रसार  जनसामान्य मे निरन्तर  किया गया। शिविर मे वृद्धावस्था पेंशन के 02 एवं निराश्रित महिला पेशंन के 01 आवेदक जिनके सभी अभिलेख पूर्ण थे, के आवेदन पत्र आनलाइन कराकर पेशंन स्वीकृति प्रक्रिया प्रारम्भ की गई।इसके अतिरिक्त शिविर मे उपस्थित ग्रामवासियों को दिव्यांग पेंशन , वृद्धावस्था पेंशन, निराश्रित महिला पेशन (विधवा पेशंन) एवं मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना, दिव्यांग जनो हेतु सहायक उपकरण योजना एवं विभिन्न प्रकार की छात्रवृत्ति योजनाओं की जानकारी दी गयीं। यह जानकारी जिला समाज कल्याण अधिकारी आनंद कुमार सिंह द्वारा दी गयीं।


मोटर वाहनों की सघन जांच प्रारंभ

 मुरादाबाद ! वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद मुरादाबाद द्वारा आशियाना चौकी क्षेत्रान्तर्गत वाहन चेकिंग अभियान चलाया गया, जिसके अन्तर्गत बिना नम्बर प्लेट 02 पहिया वाहन चालकों, बिना हेलमेट बाईक सवार, पटाखा साइलेन्सर लगी बाईकों, नो पार्किंग में रोड़वेज बस को खडा कर सवारी उतारने व चढाने वाले रोडवेज बस चालकों, कॉमर्शियल वाहन में सवारी बैठाकर ले जाने वाले चालकों, नियतन से अधिक सवारी बैठाने वाले ऑटो चालकों एवं ओवरलोडिंग, बिना नम्बर प्लेट एवं अवैध मॉडिफिकेशन वाले ट्रैक्टर ट्रॉली एवं अन्य वाहनों को मुख्यतः चेक किया गया। चेकिंग अभियान के दौरान मौके पर मौजूद थाना सिविल लाइन पुलिस की टीम द्वारा एम0वी0 एक्ट के अन्तर्गत 10 वाहनों का चालान किया एवं 05 वाहनों (03 मोटर साइकिल, 01 छोटा हाथी, 01 ऑटो) को सीज किया गया।


अपराधी के भाई ने डर से लगाई फांसी

संभल में पुलिस की हिरासत से सिपाहियों की हत्या कर भागे एक कैदी के भाई ने पुलिस के डर से लगाई फांसी।



       संभल ! पिछले दिनों अदालत में पेशी से जेल ले जाये जा रहे तीन कैदी धर्मपाल, शकील एवं कमल वैन के अंदर दो सिपाहियों की हत्या कर उनकी रायफल लेकर फरार हो गए थे। कमल को अमरोहा पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया जबकि धर्मपाल व शकील अभी फरार चल रहे हैं। पुलिस की दबिश के चलते धर्मपाल के परिवार के सभी पुरुष सदस्य भी घर से भागे हुए चल रहे ! बीती रात अमरोहा में धर्मपाल के भाई उदयवीर ने पुलिस के डर से जंगल में पेड़ से लटककर फांसी लगा ली।


मेट्रो रेल दफ्तर में लगी आग, हताहत नहीं


नोएडा मेट्रो रेल के दफ्तर में लगी आग, दमकल की गाड़‍ियां बुझाने में जुटीं 



गौतम बुध नगर ! नोएडा मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के दफ्तर (NMRC) में आग लग गई है! सेक्‍टर 29 स्थित एनएमआरसी के दफ्तर में लगी आग पर काबू पाने के लिए दमकल विभाग की गाड़‍ियां मौके पर पहुंच गईं हैं! वहीं इस घटना से अफरा-तफरी मच गई है! अभी घटना के कारणों का पता नहीं चल सका है! इसके साथ ही नोएडा मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन की ओर से भी कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है! हालांकि आग पर काबू पाने की कोशिशें की जा रही हैं!
बता दें कि कुछ दिन पहले ही दिल्ली के कालिंदी कुंज मेट्रो स्टेशन के पास पुराने फर्नीचर मार्केट में सुबह-सुबह भीषण आग लग गई थी! आग की लपटें उठती देखकर लोगों ने फौरन दमकल विभाग को इसकी जानकारी दी! जिसके बाद कई घंटों की मशक्‍कत के बाद 17 फायर ब्रिगेड की गाड़‍ियों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया! इस दौरान मजेंट लाइन की मेट्रो को रोक दिया गया! इस दौरान करीब 5 घंटे तक मेट्रो की सेवा रोकी गई और फिर ट्रायल रन करने के बाद सुबह 6 बजे से रोकी गई सेवा को सुबह 10.50 के आस पास उसे शुरू किया गया ।


नगर निगम की लापरवाही का दंश : गाजियाबाद

गाजियाबाद ! अर्थला चित्रकूट कॉलोनी में गंदगी के कारण लोगों को बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है! जिसमें नगर निगम की काफी लापरवाही होने के बावजूद भी यहां कोई सफाई करने नहीं आता और बारिश के कारण यहां नाला फुल होकर रोड पर पानी उतर आता है! और लोगों को मलेरिया जैसे डेंगू तक का सामना करना पड़ रहा है !औरत और नाला भी टूटा पड़ा है जिसे की नगर निगम की टीम कभी भी देखने नहीं !आती अगर आती भी है तो हफ्ते में एक या दो बार आगे तो आगे नहीं तो नहीं कहने के बावजूद भी नगर निगम टीम कभी नहीं आती काफी लोग इस गंदगी से काफी लोग परेशान काफी संख्या में भीड़ लोग इकट्ठे होकर अशोक ,रणवीर पंडित ,सचिन संदीप ,बीनू मेहरोलिया अमरीश ,सोनू ,हेमा, रोमा आदि लोग मौजूद रहे!


साजिशकर्ता का फोटो हार्डिंग पर:निर्भया कांड

पंजाब चुनाव आयोग के होर्डिंग में छपी निर्भया रेप कांड के दोषी की तस्वीर


नई दिल्ली ! 2012 में हुए निर्भया रेप कांड ने सबको झकझोर कर रख दिया था। इस रेप कांड में जिस तरह की क्रूरता हुई थी उसे आज भी देश नहीं भूल सका है। रेप के उन आरोपियों को लेकर लोगों का खून आज भी खौल जाता है। हाल ही में सोशल मीडिया पर एक फोटो चल पड़ी है जिसमें निर्भया के कातिल की फोटो पंजाब राज्य चुनाव आयोग के एक होर्डिंग में लगी हुई थी। इसको लेकर नाराज निर्भया की मां ने दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाती मालीवाल से मुलाकात कर शिकायत दर्ज कराई।


निर्भया का मां का आरोप है कि जिस शख्स की फोटो पंजाब राज्य चुनाव आयोग ने अपने होर्डिंग में लगाई है उसका निर्भया के बलात्कार और हत्या में बड़ा हाथ रहा है। यहां तक कि वह कई बार यह भी कह चुका है कि महिलाएं तो खुद ही बलात्कार और बलात्कारी को आमंत्रित करती हैं।


इस सब को लेकर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल का कहना है कि जिस तरीके से निर्भया के कातिलों की तस्वीर एक ब्रांड अम्‍बेसडर के रूप में उपयोग में लाई गई है इस बलात्कारी का महिमा मंडन करना माना जाएगा। उन्होंने कहा कि इससे केवल पीड़िता के मां बाप नहीं बल्कि बलात्कार की पीड़ित अन्य महिलाओं को भी दुख पहुंचा है। महिला आयोग ने आशा देवी की शिकायत के बाद चुनाव आयोग को नोटिस भेजा है।


अखिलेश से जेड प्लस सुरक्षा वापस लेगा केंद्र

 सपा अध्यक्ष अखिलेश से जेड प्लस सुरक्षा वापस लेगा केंद्र


नई दिल्ली ! केंद्र सरकार उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव से जेड प्लस (ब्लैक कैट कमांडो) सुरक्षा वापस लेने की तैयारी में है। सूत्रों ने बताया कि ऐसे कम से कम दो दर्जन अन्य वीआईपी की सुरक्षा भी या तो वापस ली जाएगी या उसमें कटौती की जाएगी। इस संबंध में जल्द ही आधिकारिक आदेश पारित किया जाएगा।


अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि गृह मंत्रालय ने केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के तहत दी जाने वाली वीआईपी सुरक्षा की व्यापक समीक्षा के बाद अखिलेश यादव को मिली एनएसजी सुरक्षा वापस लेने का फैसला किया है। फिलहाल यह साफ नहीं हो सका कि अखिलेश की केंद्रीय सुरक्षा में कटौती की जाएगी या यह पूरी तरह वापस ले ली जाएगी।


हालांकि सपा के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव को मिली एनएसजी 'ब्लैक कैट' सुरक्षा जारी रहेगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने खतरे को देखते हुए केंद्र और राज्य (उत्तर प्रदेश) की खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के आधार यह फैसला लिया है। अखिलेश को वीआईपी सुरक्षा 2012 में यूपीए सरकार के दौरान मिली थी। अभी अखिलेश की सुरक्षा में अत्याधुनिक हथियारों से लैस एनएसजी दस्ते के करीब 22 कमांडो तैनात हैं।


30 साल बाद,फेसबुक ने मिलाया

फेसबुक ने मिलाया बाल दोस्तों को


प्रयागराज। दिल में जब एक दूजे से मिलने की आरजू हो तो अब निराश होने की जरूरत नहीं। पहले जो असम्भव था, आज की सोसल मीडिया ने उसे सम्भव कर दिखाया है। 
कहा जाता है कि बचपन की दोस्ती बहुत साफ पाक एवं अनमोल होती है। दो वर्षों से साथ पढ़ रहे हाई स्कूल के दो सहपाठी अवधेश और नीति 1989 में अलग अलग कालेजों में चले गए थे और फिर एक दूसरे के बारे में कोई जानकारी नहीं रही। एक प्रयाग तो दूजा मेघालय में ।उन्होंने सोचा भी नहीं था कि एक दिन फिर वो एक दूसरे से जुड़ पाएँगे। फेसबुक पर घूमते हुए तीस साल बाद अवधेश ने नीति को देखा और झट से पहचान लिया। फिर मैसेज और सम्पर्क सूत्र ढूढ़ने की कवायद शुरु हुई। आज अन्तत: एक दूजे से आनलाइन मुलाकात हुई और तीस साल पहले ही तमाम खट्टी मीठी यादों के चलचित्र साझा हुए। दोनों ने सोसल मीडिया का आत्मीय आभार व्यक्त किया।


दिन शुभ ,मन-प्रसन्न रहेगा : मीन

राशिफल 


मेष :----आज का दिन शुभ नहीं है। मन में तनाव बना रहेगा तथा निर्णय लेने में अस्थिरता बनी रहेगी। परिवार के लोगों का झुकाव आपके अन्य भाइयों की तरफ रहेगा। जिसके कारण आपका मन दुखी रहेगा। माता का आप पर स्नेह बना रहेगा एवं माता के आशीर्वाद से आप के कार्य सिद्ध होंगे। संतान के आगे के भविष्य की सफलता को लेकर आप चिंता में मग्न रहेंगे। त्वचा संबंधी रोग हो सकता है।


वृष :------आज का दिन शुभ है। मन में प्रसन्नता बनी रहेगी तथा मन तनाव मुक्त रहेगा। दिमाग सक्रिय रहेगा एवं शरीर में स्फूर्ति बनी रहेगी। परिवार के लोगों का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा एवं समाज में प्रतिष्ठा बढ़ेगी। भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। माता को हृदय संबंधी रोग हो सकता है। संतान के कार्य सिद्ध होंगे। संतान की सफलता से मन प्रसन्न रहेगा। आपके शरीर में पौरुष शक्ति की कमी आ सकती है।


मिथुन:---- आज का दिन शुभ नहीं है। मन में अस्थिरता रहेगी। कार्य करने में रुचि उत्पन्न नहीं होगी। मन में चिंता रहने से किसी कार्य में मन एकाग्र नहीं हो पाएगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। अधिक क्रोध में किसी का अपमान ना करें, नहीं तो विवाद हो सकता है। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। पुत्र संतान पक्ष से जुड़ा हुआ कोई कार्य संपन्न होगा। आपको पाचन तंत्र से संबंधित कोई रोग हो सकता है।


कर्क :-----आज का दिन शुभ है। आपका भाग्य पूर्ण सहयोग प्रदान करेगा। परिवार में सभी से पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। समाज में मान सम्मान बढ़ेगा। भाइयों का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। माता के आशीर्वाद से कार्य क्षेत्र में सफलता प्राप्त होगी। संतान के लिए शुभ समय है। संतान को पूर्ण सफलता प्राप्त होगी। जिससे आपका मन प्रसन्न रहेगा। आपको किसी महत्वपूर्ण कार्य के लिए संतान के द्वारा उचित सलाह प्रदान की जाएगी।


सिंह :------आज का दिन शुभ नहीं है। वाहन सावधानी से चलाएं, दुर्घटना हो सकती है। अधिक क्रोध से बचकर रहें नहीं तो ब्लड प्रेशर अधिक बढ़ने से नुकसान हो सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें नहीं तो परिवार में विवाद हो सकता है। माता का वर्तमान में क्रोध अधिक रहेगा। अतः विवाद ना करें। संतान के द्वारा किसी बात को लेकर जिद की जा सकती है। जिसको पूरा करने से आपके मन में चिंता रहेगी!


कन्या :-----आज का दिन शुभ है। मन में प्रसन्नता बनी रहेगी। भविष्य की सफलता के लिए योजनाएं बनाने में लग जाएंगे एवं योजनाओं को क्रियान्वयन करने के लिए प्रयास करना शुरू कर देंगे। भाइयों का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। परिवार में मान-सम्मान बढ़ेगा। माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा एवं माता के आशीर्वाद से कार्य क्षेत्र में सफलता मिलेगी। संतान के अंदर वर्तमान में तार्किक शक्ति अधिक होने से विवाद की बात कर सकते हैं।
तुला :-----आज का दिन सामान्य है। मन में अस्थिरता बनी रहेगी। तनाव बना रहेगा। निर्णय लेने में असमंजस पैदा होगा। परिवार में कोई धार्मिक कार्य हो सकता है। माता को हड्डी या जोड़ों से संबंधित भी तकलीफ हो सकती है। संतान के द्वारा किसी बात पर तर्क-कुतर्क करने से आपको तनाव हो सकता है। संतान के विचारों को सुनें, समझे एवं व्यावहारिक तौर पर सही सलाह दें।


वृश्चिक:------ आज का दिन शुभ है। मन में प्रसन्नता बनी रहेगी। कार्य करने में अधिक ऊर्जा की अनुभूति करेंगे। दिमाग सक्रिय रहेगा एवं शरीर में स्फूर्ति बनी रहेगी। मन में धार्मिक विचार उत्पन्न होंगे। भगवान की भक्ति करने से मन को शांति मिलेगी। परिवार में आनंदपूर्ण वातावरण बना रहेगा। भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। माता के स्वास्थ्य में लाभ मिलेगा। माता के आशीर्वाद से आपको सफलता मिलेगी।


धनु :-----आज का दिन शुभ नहीं है। मन में अस्थिरता बनी रहेगी एवं तनाव पैदा होगा। मन में अनजाना सा भय बना रहेगा। परिवार में भाइयों से किसी बात को लेकर विवाद हो सकता है। माता के प्रति लगाव बना रहेगा। माता के आशीर्वाद से आपको कार्य क्षेत्र में सफलता मिलेगी। आपको शीत प्रकृति से संबंधित रोग हो सकता है। संतान से किसी बात को लेकर मतभेद हो सकता है। जीवनसाथी से सामंजस्य बना रहेगा।


मकर:---- आज का दिन शुभ है। मन में प्रसन्नता रहेगी। आत्मविश्वास बना रहेगा। दिमाग सक्रिय रहेगा एवं कार्य करने में स्फूर्ति बनी रहेगी। भाइयों का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। परिवार में मान-सम्मान बढ़ेगा एवं समाज में प्रतिष्ठा प्राप्त होगी। भाइयों का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। संतान के शिक्षा संबंधित कार्य पूर्ण होंगे। शत्रुओं पर विजय प्राप्त कर पाएंगे। जीवनसाथी का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। कार्य क्षेत्र में सफलता मिलेगी।


कुंभ :------आज का दिन सामान्य है। कार्य करने में ऊर्जा की कमी महसूस करेंगे। मन में असमंजस रहेगा। आत्मविश्वास की कमी महसूस करेंगे। परिवार में किसी सदस्य के स्वास्थ्य को लेकर चिंता बनी रहेगी। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। संतान पक्ष की तार्किक बुद्धि के कारण विवाद की स्थिति बन सकती है। संतान को अधिक व्यावहारिक तौर पर समझाएं।


मीन :-----आज का दिन शुभ रहेगा। मन में प्रसन्नता रहेगी। आत्मविश्वास बना रहेगा। भविष्य की सफलता को लेकर विशेष योजना बनाएंगे एवं उनके क्रियान्वयन के लिए प्रयास करेंगे। दिमाग सक्रिय रहेगा एवं कार्य करने में स्फूर्ति का अनुभव करेंगे। परिवार का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। समाज में कोई विशेष पद मिल सकता है। दूसरे के विवादों को अपनी बुद्धिमत्ता से हल कर सकेंगे। माता का आशीर्वाद आपको प्राप्त है।


पर्वत जलवायु को प्रभावित करते हैं

जलवायु विभाजक पर्वत मौसम संबंधी अनेक प्रकार की घटनाओं को प्रभावित कर सकते हैं। वे तड़ित झंझा, विक्षोभ और पर्वत तरंग उत्पन्न कर सकते हैं, जेट प्रवाह को विभाजित अथवा त्वरित कर सकते हैं, बर्फ के संचयन में मदद दे सकते हैं और वायु के बहने के पैटर्न को 'विकृत' कर सकते हैं।


जलवायु की दृष्टि से किसी क्षेत्र में पर्वतों की स्थिति बहुत महत्त्वपूर्ण होती है। उस क्षेत्र का पर्वत पर स्थित होना (सागर तल से ऊंचाई पर स्थित होना) तो मौसम को प्रभावित करता ही है साथ ही यह भी महत्त्वपूर्ण है कि यह पर्वत के किस ढाल-पवनाभिमुख (विंडवर्ड) ढाल अथवा प्रतिपवन (लीवर्ड) ढाल-पर स्थित है।


किसी स्थान की जलवायु को निर्धारित करने वाले कारकों की चर्चा करते समय मौसमवैज्ञानिक और भूगोलवेत्ता अक्सर ही क्विटो शहर का उदाहरण देते हैं। क्विटो दक्षिण अमेरिका के इक्वेडोर देश की राजधानी है और भूमध्यरेखा पर स्थित है। इसलिए उसकी जलवायु को सामान्यतः वर्ष भर गर्म और आर्द्र रहना चाहिए और वहां सर्दी की ऋतु होनी ही नहीं चाहिए। परंतु क्विटो एंडीज पर्वत की एक चोटी पर स्थित है जिसकी सागर तल से ऊंचाई काफी अधिक है। इसलिए सर्दी की ऋतु में वहां वायुमंडल का ताप इतना गिर जाता है कि पानी जमने लगता है।


इसी प्रकार हिमालय के अक्षांशों में ही स्थित मैदानी इलाकों में सर्दियों में ताप इतने नीचे नहीं गिरता कि पानी जम जाए। आप जानते ही हैं कि हिमालय की अधिकांश चोटियां सदैव बर्फ से ढंकी रहती हैं। इसका कारण हिमालय की ऊंचाई ही है।


ऊंचे पर्वत पर स्थित होने के फलस्वरूप किसी स्थान की जलवायु के अपेक्षाकृत अधिक ठंडी हो जाने का एक मुख्य कारण है धरती की सतह से परावर्तित होने वाली सौर ऊर्जा की काफी मात्रा का उस स्थान तक न पहुंच पाना। बादल और धूलकण जो वायुमंडल में अपेक्षाकृत कम ऊंचाई पर उपस्थित होते हैं, अंतरिक्ष की ओर परावर्तित होने वाली ऊर्जा की काफी मात्रा को पुनः धरती की ओर परावर्तित कर देते हैं। इसलिए ऊंचे क्षेत्र मैदानी क्षेत्र की अपेक्षा अधिक ठंडे रहते हैं। सर्दियों में अनेक ऊंचे क्षेत्रों में जलाशय जम कर बर्फ में परावर्तित हो जाते हैं। यह बर्फ उस क्षेत्र के ताप को और कम कर देती है क्योंकि बर्फ का ऐल्बिडो काफी अधिक, 70-90 प्रतिशत तक, होता है, अर्थात् बर्फ उस पर पड़ने वाली सौर ऊर्जा के 70-90 प्रतिशत भाग को परावर्तित कर देती है। इससे ऊंचे पर्वतों पर धरती की सतह बहुत कम गर्म हो पाती है। धरती की सतह के बहुत कम ऊष्मा प्राप्त करने के कारण उसके द्वारा परावर्तित की जाने वाली ऊर्जा की मात्रा भी कम होती है। फलस्वरूप धरती की सतह से परावर्तित होने वाली दीर्घ तरंगों से ऊंचे पर्वतों का वायुमंडल भी अपेक्षाकृत कम गर्म हो पाता है। ऊंचे पर्वतों पर वायुमंडल का दाब भी अपेक्षाकृत कम होता है।


किसी क्षेत्र की जलवायु पर उसके निकटवर्ती पर्वत की दिशा का भी अत्यधिक प्रभाव पड़ता है। हमारे देश की उत्तरी सीमा बनाने वाला पर्वतराज, हिमालय, पूर्व-पश्चिम दिशा में स्थित है। अपनी स्थिति के फलस्वरूप ही वह गर्मी की मानसून पवन को तिब्बत में नहीं जाने देता तथा उनके संपूर्ण जलवाष्प भंडार को अपनी तलहटी में ही रिक्त करा देता है। इसी वर्षा के फलस्वरूप गंगा-यमुना के कछार में पर्याप्त वर्षा होती है और उत्तर की नदियों को पानी मिलता है। साथ ही उस बर्फ के लिए भी पानी मिलता है जो हिमालय की चोटियों पर सदा जमी रहती है। इस वर्षा की वजह से ही हिमनदियां बनती हैं। हिमालय की पूर्व-पश्चिम दिशा में स्थिति यदि मानसून पवन को भारत से बाहर नहीं जाने देती तो वह साइबेरिया और मध्य एशिया की बर्फीली पवन को भारत में आने भी नहीं देती। हिमालय की विशेष स्थिति के फलस्वरूप ही भारत की जलवायु इतनी सुखद है और तिब्बत की इतनी विषम। मौसम- वैज्ञानिकों के अनुसार दक्षिण-पूर्वी एशिया में गर्मी में मानसून की प्रबलता का श्रेय मुख्य रूप से हिमालय की विशेष स्थिति को ही है।


हमारे देश के ही दो अन्य पर्वतों, पश्चिमी घाट और अरावली की स्थितियां भी अपने निकटवर्ती क्षेत्रों की जलवायु की दृष्टि से अत्यंत महत्त्वपूर्ण हैं। पश्चिमी तट के एकदम निकट, उत्तर-दक्षिण दिशा में, लगभग 1000 किमी. तक फैले पश्चिमी घाट की ऊंचाई 1 से 1.5 किमी. तक है परंतु वह दक्षिण-पश्चिम से आने वाली गर्मी की मानसून के मार्ग में “बाधा” उत्पन्न कर देता है। उसे पार करने के लिए इस पवन को ऊपर उठना पड़ता है और इस कोशिश में वह अपने जलवाष्प भंडार के बड़े भाग को वर्षा के रूप में त्याग कर लगभग “सूखी” हो जाती हैं। पश्चिमी तट पर स्थित मुंबई को वर्ष भर में लगभग 190 सेमी. वर्षा मिलती है, खंडाला जो 540 मीटर ऊंचाई पर स्थित है, 460 सेमी. और मुंबई से केवल 130 किमी. दूर परंतु पश्चिमी घाट के दूसरी ओर (प्रतिपवन ढाल पर) स्थित पुणे को मात्र 50 सेमी.।


यद्यपि अरब सागर से आने वाली गर्मी की मानसून राजस्थान के ऊपर से गुजरती हैं पर नमी के विशाल भंडार को संजोए रखने के बावजूद वह वहां बहुत कम वर्षा करती है। इस अल्प वर्षा के लिए बहुत हद तक अरावली पर्वत की स्थिति उत्तरदायी है। वह उत्तर-पूर्व से दक्षिण-पश्चिम दिशा में स्थित है और मानसून के मार्ग में बहुत कम “बाधा” डालता है। फिर भी अरावली का दक्षिणी भाग कुछ हद तक मानसून पवन को वर्षा करने के लिए मजबूर कर देता है। इसीलिए माउंट आबू पर वर्ष भर में 170 सेमी. वर्षा हो जाती है जबकि उसके आसपास के मैदानी इलाकों में वर्ष भर में केवल 60 से 80 सेमी. ही है।


नाग मंदिरो की स्‍थापना (आस्‍था)

नागराज एक संस्कृत शब्द है जो कि नाग तथा राज (राजा) से मिलकर बना है अर्थात नागों का राजा। यह मुख्य रूप से तीन देवताओं हेतु प्रयुक्त होता है - अनन्त (शेषनाग), तक्षक तथा वासुकि। अनन्त, तक्षक तथा वासुकि तीनों भाई महर्षि कश्यप, तथा उनकी पत्नी कद्रु के पुत्र थे जो कि सभी साँपों के जनक माने जाते हैं। मान्यता के अनुसार नाग का वास पाताललोक में है।


सबसे बड़े भाई अनन्त भगवान विष्णु के भक्त हैं एवं साँपों का मित्रतापूर्ण पहलू प्रस्तुत करते हैं क्योंकि वे चूहे आदि जीवों से खाद्यान्न की रक्षा करते हैं। भगवान विष्णु जब क्षीरसागर में योगनिद्रा में होते हैं तो अनन्त उनका आसन बनते हैं तथा उनकी यह मुद्रा अनन्तशयनम् कहलाती है। अनन्त ने अपने सिर पर पृथ्वी को धारण किया हुआ है। उन्होंने भगवान विष्णु के साथ रामायण काल में राम के छोटे भाई लक्ष्मण तथा महाभारत काल में कृष्ण के बड़े भाई बलराम के रूप में अवतार लिया। इसके अतिरिक्त रामानुज तथा नित्यानन्द भी उनके अवतार कहे जाते हैं।


छोटे भाई वासुकि भगवान शिव के भक्त हैं, भगवान शिव हमेशा उन्हें गर्दन में पहने रहते हैं। तक्षक साँपों के खतरनाक पहलू को प्रस्तुत करते हैं, क्योंकि उनके जहर के कारण सभी उनसे डरते हैं।


गुजरात के सुरेंद्रनगर जिले के थानगढ़ तहसील में नाग देवता वासुकि का एक प्राचीन मंदिर है। इस क्षेत्र में नाग वासुकि की पूजा ग्राम्य देवता के तौर पर की जाती है। यह भूमि सर्प भूमि भी कहलाती है। थानगढ़ के आस पास और भी अन्य नाग देवता के मंदिर मौजूद है।


देवभूमि उत्तराखण्ड में नाग के छोटे-बड़े अनेक मन्दिर हैं। वहाँ नागराज को आमतौर पर नाग देवता कहा जाता है और नागराज शब्द का प्रयोग यहां के लोगों द्वारा नहीं किया जाता है। उत्तराखण्ड में सिर्फ नागराजा शब्द का प्रयोग होता है और सेम मुखेम नागराजा उत्तराखण्ड का सबसे प्रसिद्ध तीर्थ है जहां कृष्ण भगवान नागराजा के रूप में पूजे जाते हैं और यह उत्तराकाशी जिले में है तथा श्रद्धालुओं में सेम नागराजा के नाम से प्रसिद्ध है। एक अन्य प्रसिद्ध मन्दिर डाण्डा नागराज पौड़ी जिले में है। उत्तरकाशी में दो नाग कालिया और वासुकि नाग को नागराज के स्वरूप में पूजा जाता है। कालिया नाग को डोडीताल क्षेत्र में पूजा जाता है और वासुकि नाग को बदगद्दी में तथा टेक्नॉर में पूजा जाता है। मान्यता है कि वासुकि नाग का मुँह गनेशपुर में और पूँछ मानपुर में स्तिथ है ।


तमिलनाडु के जिले के नागरकोइल में नागराज को समर्पित एक मन्दिर है। इसके अतिरिक्त एक अन्य प्रसिद्ध मन्दिर मान्नारशाला मन्दिर केरल के अलीप्पी जिले में है। इस मन्दिर में अनन्त तथा वासुकि दोनों के सम्मिलित रूप में देवता हैं।


केरल के तिरुअनन्तपुरम् जिले के पूजाप्पुरा में एक नागराज को समर्पित एक मन्दिर है। यह पूजाप्पुरा नगरुकावु मन्दिर के नाम से जाना जाता है। इस मन्दिर की अद्वितीयता यह है कि इसमें यहाँ नागराज का परिवार जिनमें नागरम्मा, नागों की रानी तथा नागकन्या, नाग राजशाही की राजकुमारी शामिल है, एक ही मन्दिर में रखे गये हैं।


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...