सोमवार, 20 जून 2022

24 जून को देशभर में विरोध-प्रदर्शन होगा: टिकैत

24 जून को देशभर में विरोध-प्रदर्शन होगा: टिकैत 

भानु प्रताप उपाध्याय/गोपीचंद      

मुजफ्फरनगर/बागपत। भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने सोमवार को अपने ट्विटर अकाउंट पर अग्निपथ योजना को लेकर ट्वीट किया है। राकेश टिकैत ने ऐलान किया कि संयुक्त किसान मोर्चा का 24 जून को अग्निपथ योजना के खिलाफ देशभर में जिला-तहसील मुख्यालयों पर विरोध-प्रदर्शन होगा। संयुक्त किसान मोर्चा कॉर्डिनेशन कमेटी द्वारा करनाल में यह फैसला लिया गया। उन्होंने युवाओं से संगठनों के साथ जुड़ने की अपील की। वहीं, भाकियू 30 के प्रदर्शन के बजाय, 24 के फैसले में ही शामिल है। 

बागपत के दोघट कस्बे में भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि सेना में चार वर्ष की नौकरी करना युवाओं के लिए भद्दा मजाक है। उन्होंने सरकार पर निशाने साधते हुए कहा कि युवाओं के साथ मजाक किया जा रहा है। इसके परिणाम अच्छे नहीं होगें। दोघट कस्बे में भाकियू कार्यकर्ता राजेंद्र चौधरी के आवास पर पत्रकारों से वार्ता के दौरान भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत ने कहा कि सरकार ने सेना की नौकरी के साथ छेड़छाड़ कर अच्छा कदम नहीं उठाया है। यह युवाओं के साथ एक भद्दा मजाक किया जा रहा है। पहले किसानों के साथ न्याय नहीं किया, जिसके लिए 13 माह किसान धरना देकर बैठे रहे। अब सेना भर्ती में चार वर्ष कर युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि चार वर्ष में जवान हथियार चलाना एवं सेना के सही तौर तरीके सीखता था। लेकिन, अब चार वर्ष बाद वह घर वापस आ जाएगा। लालबहादुर शास्त्री ने जो नारा दिया कि जय जवान, जय किसान वह राष्ट्र हित में रहा है। लेकिन, इस पर सरकार की मंशा ठीक नहीं है। पहले किसानों और अब जवानों के साथ भद्दा मजाक किया जा रहा है। युवाओं को आंदोलन के लिए सड़कों पर आना पड़ा। सरकार को यह निर्णय वापस लेना चाहिए। यह फैसला युवाओं के हित में नहीं है।

प्रदर्शन पर अंकुश, 20 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद

प्रदर्शन पर अंकुश, 20 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद

अविनाश श्रीवास्तव
पटना। बिहार में अग्निपथ योजना के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर अंकुश लगाने के लिए 20 जिलों में इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है। वहीं प्रदर्शन के नाम पर सरकारी और निजी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने और तोड़फोड़ के आरोप में अब तक 800 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। राज्य में हो रहे हंगामे को लेकर अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए हले 15 जिलों में इंटरनेट पर रोक लगाई गई थी। अब इनमें 5 और जिले जोड़ दिए गए हैं।
प्रशासन द्वारा सोमवार को कैमूर, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, बक्सर, नवादा, पश्चिम चंपारण, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, सारण, मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, दरभंगा, गया, मधुबनी, जहानाबाद, खगड़िया और शेखपुरा जिले में इंटरनेट सुविधा पर रोक लगा दी गई है। इस बीच, 16 जून से लेकर 18 जून तक प्रदर्शन के नाम पर सरकारी सम्पत्ति को विनष्ट करने, आगजनी करने तथा तोड़-फोड़ के विरुद्ध राज्य भर में कुल 145 प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं तथा 804 अराजक तत्वों की गिरफ्तारी की गई है।
पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि हिंसा, आगजनी, सरकारी सम्पत्ति को नष्ट करने, तोड़-फोड़ करने, अफवाह फैलाने तथा लोगों को हिंसा करने के लिए उत्प्रेरित करने वालों की अनुसंधान के क्रम में विभिन्न माध्यमों से पहचान की जा रही है। राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए पुलिस मुख्यालय द्वारा बिहार पुलिस बल के अतिरिक्त अर्ध-सैनिक बलों की विभिन्न जिलों में तैनाती की गई है।

दिल्ली सरकार के मंत्री जैन को अस्पताल में भर्ती कराया

दिल्ली सरकार के मंत्री जैन को अस्पताल में भर्ती कराया 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन को सोमवार को यहां स्थित एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया। सूत्रों ने बताया कि उनकी हालत स्थिर है। जैन फिलहाल धन शोधन के मामले में न्यायिक हिरासत में हैं और इस मामले की जांच प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) कर रहा है। जैन (57 वर्ष) को ईडी ने धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत गत 30 मई को गिरफ्तार किया था।
एक सूत्र ने कहा, ‘‘उन्हें पहले तिहाड़ जेल से जीबी पंत अस्पताल ले जाया गया, फिर उन्हें एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनकी हालत स्थिर है।’’ केजरीवाल सरकार में जैन बिना किसी विभाग के मंत्री हैं। ईडी उनके खिलाफ कथित हवाला सौदे के मामले में पीएमएलए के तहत जांच कर रही है। गत अप्रैल में ईडी ने जैन परिवार की कंपनियों की 4.81 करोड़ रुपये की संपत्ति को कुर्क किया था।

राष्ट्रपिता गांधी की खंडित प्रतिमा में सुधार किया जाएं

राष्ट्रपिता गांधी की खंडित प्रतिमा में सुधार किया जाएं

दुष्यंत टीकम
सरगुजा। आज़ाद सेवा संघ छत्तीसगढ़ के प्रदेश सचिव रचित मिश्रा के उपस्थिति में एवं आजाद युवा संघ सरगुजा संभाग के प्रवक्ता अनुराग तिवारी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं के द्वारा नगर निगम अंबिकापुर के आयुक्त को ज्ञापन सौंपकर मांग की, कि महात्मा गांधी को देश का राष्ट्रपिता कहा जाता है। जिनकी प्रतिमा सरगुजा जिला के मुख्यालय अंबिकापुर शहर के हृदय स्थल गांधी चौक में स्थापित है।
जो कि 1 महीने पूर्व (15.05.2022) खंडित हो चुकी है। परंतु आज 1 महीने बीतने के बाद भी उसका मरम्मत नहीं की गई है। संगठन के द्वारा मां किया गया है कि सात दिवस के अंतराल में हमारे देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की खंडित प्रतिमा में सुधार किया जाएं, या वहां नई प्रतिमा लगाया जाएं। नगर नमन आयुक्त महोदय के द्वारा बताया कि टेंडर हो चुका है और बहुत ही जल्दी शहर के हृदय स्थल गांधी चौक में राष्ट्रपिता महात्मा महात्मा गांधी की दूसरी भव्य प्रतिमा लगाया जाएगा।
ज्ञापन सौंपते समय प्रतीक गुप्ता, गुरप्रीत सिंह, रवि गुप्ता, अतुल गुप्ता, हेमा, रजक, दिलेश्वर ठाकुर, अभिनव चतुर्वेदी आदि उपस्थित रहे।

नए फोन 'टेक्नो पोवा' को लॉन्च किया: इंडिया

नए फोन 'टेक्नो पोवा 3' को लॉन्च किया: इंडिया 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। टेक्नो इंडिया ने भारत में अपने नए फोन 'टेक्नो पोवा 3' को लॉन्च कर दिया है। टेक्नो पोवा 3 को लेकर दावा है कि यह भारत का पहला ऐसा स्मार्टफोन है जिसके साथ 7000mAh की बैटरी और 33W की फास्ट चार्जिंग दी गई है। इसके अलावा टेक्नो पोवा 3 में मीडियाटेक हीलियो G88 प्रोसेसर के साथ ग्राफिक्स के लिए Mali G52 GPU और 90Hz रिफ्रेश रेट वाली डिस्प्ले है।
टेक्नो पोवा 3 के 4 जीबी रैम के साथ 64 जीबी स्टोरेज की कीमत 11,499 रुपये है। वहीं 6 जीबी रैम के साथ 128 जीबी स्टोरेज की कीमत 12,999 रुपये रखी गई है। फोन की बिक्री 27 जून से अमेजन इंडिया से इको ब्लैक और टेक सिल्वर कलर में होगी।
3 में 6.9 इंच की फुल एचडी प्लस डिस्प्ले है जिसका रिजॉल्यूशन 1080×2460 पिक्सल है जिसका रिफ्रेश रेट 90Hz है। फोन में मीडियाटेक हीलियो G88 प्रोसेसर के साथ ग्राफिक्स के लिए माली G52 GPU और 6 जीबी तक रैम के साथ 128 जीबी तक की स्टोरेज है। फोन में 11 जीबी तक का वर्चुअल रैम मिलेगा।
3 में तीन रियर कैमरे हैं। जिनमें प्राइमरी लेंस 50 मेगापिक्सल का है। दूसरा लेंस 2 मेगापिक्सल का है और तीसरा लेंस एआई है। रियर कैमरे के साथ क्वॉड फ्लैश लाइट है। सेल्फी के लिए फ्लैश लाइट के साथ 8 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है। टेक्नो के इस फोन के कैमरे के साथ एआई कैम, ब्यूटी, पोट्रेट, शॉर्ट वीडियो और सुपर नाइट जैसे मोड मिलते हैं। इसके ऑटो आईफोकस भी है। कैमरे के साथ डॉक्यूमेंट स्कैनर भी दिया गया है।
 7000एमएएच की बड़ी बैटरी है जिसके साथ 33 वॉट की फास्ट चार्जिंग भी है और यह चार्जर आपको फोन के साथ बॉक्स में ही मिलेगा बैटरी के बैकअप को लेकर 53 दिनों के स्टैंडबाय और 30 घंटे के वीडियो प्लेबैक का दावा है। 33 वॉट का चार्जर 40 मिनट में 50 प्रतिशत बैटरी को चार्ज कर देगा। इसमें 10 वॉट की रिवर्स चार्जिंग भी मिलती है यानी इस फोन से आप दूसरे गैजेट को भी चार्ज कर सकते है।

‘गलत सूचना अभियान’ के झांसे में नहीं आना चाहिए

‘गलत सूचना अभियान’ के झांसे में नहीं आना चाहिए

इकबाल अंसारी  
अहमदाबाद। केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने ‘अग्निपथ’ योजना को लेकर उठ रहे हंगामे के बीच सोमवार को कहा कि देश के युवाओं को सशस्त्र बलों के लिए घोषित नई भर्ती प्रक्रिया के बारे में ‘गलत सूचना अभियान’ के झांसे में नहीं आना चाहिए। इसे देश की खातिर और रक्षा बलों में काम करने के इच्छुक लोगों के लिए एक ‘‘महत्वपूर्ण योजना’’ बताते हुए मेघवाल ने कहा कि कुछ युवा गलत सूचना के कारण पिछले सप्ताह घोषित योजना का विरोध कर रहे हैं और उन्होंने ऐसे लोगों को सलाह दी कि वे इसके झांसे में न आएं।
केंद्रीय संस्कृति राज्य मंत्री ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘अग्निपथ एक महत्वपूर्ण योजना है। यह उन लोगों को अवसर प्रदान करती है जो सशस्त्र बलों में शामिल होना चाहते हैं।’’ योजना के खिलाफ कई राज्यों में हिंसक विरोध के बीच उन्होंने कहा, ‘‘कुछ युवा गलत सूचना के कारण योजना का विरोध कर रहे हैं। उन्हें कुछ पार्टियों के जाल में नहीं फंसना चाहिए जो योजना के बारे में गलत सूचना अभियान चला रहे हैं। मैं इस योजना का स्वागत करता हूं।
’’ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता ने कहा कि कार्यक्रम के तहत नियमित नौकरियों के लिए 25 प्रतिशत रंगरूटों को शामिल किए जाने के बाद भी जो चार साल की सेवा के बाद सेना छोड़ देते हैं, उन्हें एक अलग से पैकेज मिलेगा और अच्छी तरह प्रशिक्षित होने पर अर्द्धसैनिक बलों में नौकरी लेने का अवसर मिलेगा। मेघवाल यहां नवजीवन ट्रस्ट और भारत के राष्ट्रीय अभिलेखागार के एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आए थे।
इस योजना के खिलाफ कई राज्यों में हिंसक प्रदर्शन हुए, जिसमें पिछले कुछ दिनों से कई ट्रेनों और रेलवे स्टेशनों में युवाओं ने विरोध प्रदर्शन करते हुए आग लगा दी। केंद्र ने पिछले हफ्ते अग्निपथ योजना का अनावरण किया था जिसके तहत साढ़े 17 वर्ष से 21 वर्ष (2022 भर्ती प्रक्रिया के लिए ऊपरी आयु में छूट) के बीच के युवाओं को चार साल के कार्यकाल के लिए रक्षा सेवाओं की तीनों शाखाओं में शामिल करने के लिए चुना जाएगा।
पच्चीस प्रतिशत उम्मीदवारों को चार साल के अंत में नियमित सेवा में बरकरार रखा जाएगा। हालांकि, इस योजना की विपक्षी दलों के नेताओं ने आलोचना की है, जिनका कहना है कि इससे सशस्त्र बलों के कामकाज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। रक्षा सेवा में नौकरी के इच्छुक उम्मीदवार भर्ती योजना की अल्पकालिक प्रकृति से खुश नहीं हैं जिसमें पेंशन और चिकित्सा कवर का लाभ शामिल नहीं है।

अभिनेत्री अरोड़ा ने नई बोल्ड तस्वीर शेयर की

अभिनेत्री अरोड़ा ने नई बोल्ड तस्वीर शेयर की 

कविता गर्ग  
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा ने एक बार फिर इंटरनेट पर तहलका मचा दिया। दरअसल, अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा ने सोशल मीडिया अकाउंट पर अपनी नई बोल्ड तस्वीर शेयर की है। इस तस्वीर में मलाइका बिकिनी पहने नजर आ रही है।
इस तस्वीर में देख सकते है कि मलाइका समंदर के बीचों-बीच खड़े होकर पोज दे रही हैं। एक्ट्रेस का बोल्ड अंदाज देख फैंस पागल हो रहे हैं। पानी में स्विम करते हुए इस फोटो को साइड व्यू से लिया गया है। मलाइका अरोड़ा ने इस तस्वीर को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा -स्विम 
मलाइका अपनी तस्वीरों और फिटनेस को लेकर हमेशा चर्चा में बनी रहती है। वे अपने फैंस के लिए आए दिन तस्वीरें और वीडियोज शेयर करती रहती हैं। एक्ट्रेस का बोल्ड अंदाज उनके चाहने वालों को बेहद पसंद आ रहा है।

पीएम ने 'मस्तिष्क अनुसंधान केंद्र' का उद्घाटन किया

पीएम ने 'मस्तिष्क अनुसंधान केंद्र' का उद्घाटन किया

इकबाल अंसारी  
बेंगलुरू। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी) परिसर में 280 करोड़ रुपये की लागत से बनें 'मस्तिष्क अनुसंधान केंद्र' (सीबीआर) का सोमवार को उद्घाटन किया। जिसकी आधारशिला उन्होंने स्वयं रखी थी। प्रधानमंत्री ने इस कार्यक्रम के दौरान 832 बिस्तर वाले ‘बागची-पार्थसारथी मल्टीस्पैशियलिटी’ अस्पताल की भी आधारशिला रखी।अधिकारियों ने बताया कि सीबीआर को अपनी तरह के एक अलग अनुसंधान केंद्र के रूप में विकसित किया गया है और इसमें उम्र से संबंधित मस्तिष्क विकारों के समाधान के लिए साक्ष्य-आधारित जन स्वास्थ्य उपचार मुहैया कराने के उद्देश्य से महत्वपूर्ण अनुसंधान करने पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। कर्नाटक के राज्यपाल थावरचंद गहलोत, मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई, केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी, सूचना प्रौद्योगिकी की दिग्गज कंपनी इंफोसिस के सह-संस्थापक एस गोपालकृष्णन और उनका परिवार भी इस कार्यक्रम में मौजूद था।
अधिकारियों ने बताया कि गोपालकृष्णन और उनकी पत्नी सुधा गोपालकृष्णन की मदद से आईआईएससी में एक स्वायत्त, गैर-लाभकारी अनुसंधान संगठन के रूप में मस्तिष्क अनुसंधान केंद्र की स्थापना की गई है। उन्होंने कहा कि सीबीआर परोपकारी संगठनों एवं व्यक्तियों द्वारा वित्त पोषित है और इसे कई अनुदान एजेंसियों से विशिष्ट परियोजनाओं के लिए अनुसंधान अनुदान प्राप्त होता है। गोपालकृष्णन ने आईआईएससी परिसर के भीतर सीबीआर के लिए अत्याधुनिक भवन के निर्माण के वास्ते भी धन प्रदान किया है और उनका यह उपहार भारत के इतिहास में वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए किसी व्यक्ति द्वारा प्रदान किया गया सबसे बड़ा समर्थन है।
 मल्टीस्पैशियलिटी’ अस्पताल आईआईएससी बेंगलुरु के परिसर में विकसित किया जाएगा और यह प्रतिष्ठित संस्थान विज्ञान, इंजीनियरिंग और चिकित्सा को एकीकृत करने में मदद करेगा। अधिकारियों ने कहा कि यह देश में नैदानिक अनुसंधान को बड़ा प्रोत्साहन देगा और देश में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए मददगार नवोन्मेषी समाधान खोजने की दिशा में काम करेगा।
 बागची-पार्थसारथी अस्पताल की स्थापना के लिए परोपकारी सुष्मिता एवं सुब्रतो बागची और राधा एवं एन एस पार्थसारथी के साथ फरवरी में साझेदारी की। आईआईएससी के निदेशक प्रोफेसर गोविंद रंगराजन ने कहा था, ‘‘ये जोड़े 800 बिस्तरों वाले मल्टी स्पैशियलिटी अस्पताल के निर्माण के लिये सामूहिक रूप से 425 करोड़ रुपये (लगभग छह करोड़ डॉलर) दान करेंगे।
आईआईएससी की स्थापना के बाद से उसे यह सबसे बड़ा निजी दान प्राप्त हुआ है ।’’ सुब्रतो बागची और एन एस पार्थसारथी माइंडट्री के सह-संस्थापक हैं जो सूचना प्रौद्योगिकी सेवा और परामर्श कंपनी है जिसका मुख्यालय बेंगलुरु में है । सुष्मिता ने कहा था, ‘‘परोपकारी होने का मतलब दूसरों के लिए सहानुभूति पैदा करना है, दूसरों के लिए महसूस करना और संवेदनशील बनना है। ये ऐसे मूल्य हैं जो हमारे माता-पिता से हमें मिले।
उन्होंने कहा, हमने उनके पद चिह्नों पर चलते हुए छोटे-छोटे तरीके अपनाए। जब हम 1990 के दशक में अमेरिका में रहते थे, तो समुदाय में हर कोई मुद्दों के साथ जिस तरह से जुड़ा हुआ था, उससे हम बहुत प्रभावित हुए। जिस तरह से वे अपने आपको पेश करते हैं और मदद करते हैं, उससे हमें भारत लौटने पर संस्थानों से जुड़ने में मदद मिली। राधा ने कहा कि वे लोग लंबे समय से छोटे-मोटे परमार्थ के काम में लगे हुये हैं।
उन्होंने कहा, हालांकि, यह पहला मौका है जब हम आईआईएससी जैसी बड़ी संस्था में इतना बड़ा योगदान दे रहे हैं । यह पूछे जाने पर कि इतनी बड़ी धन राशि दान करने की प्रेरणा उन्हें कहां से मिली, राधा ने कहा कि उन्होंने कड़ी मेहनत की है और अब जब संसाधन उनके पास हैं तो उनका मानना ​​है कि यह उन तक सौभाग्य से पहुंचे हैं। राधा ने कहा, ‘‘हम मानते हैं कि नियति ने हमें ये संसाधन दिए हैं और ऐसे में इनका इस्तेमाल ‘‘वसुधैव कुटुम्बकम’’ के सिद्धांत के आधार पर लोगों की भलाई के लिए किया जाना चाहिये।’’ इस अस्पताल के 2024 तक शुरू हो जाने की उम्मीद है।

साइबर को राष्ट्रीय सुरक्षा का अभिन्न अंग करार दिया

साइबर को राष्ट्रीय सुरक्षा का अभिन्न अंग करार दिया

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। केन्द्रीय गृृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को कहा, कि कुछ देशों ने भारत की सुरक्षा में सेंध लगाने के लिए साइबर आर्मी बना रखी है। लेकिन सरकार की संबंधित ऐजेन्सियां इस खतरे से निपटने के लिए पूरी तरह चौकन्नी रहती हैं। शाह ने सोमवार को यहां विज्ञान भवन में साइबर सुरक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा पर राष्ट्रीय सम्मेलन (साइबर अपराध से आज़ादी – आज़ादी का अमृत महोत्सव) को संबोधित करते हुए साइबर सुरक्षा को राष्ट्रीय सुरक्षा का अभिन्न अंग करार दिया और कहा कि मोदी सरकार इसे सशक्त बनाने के लिए हर सम्भव प्रयास कर रही है।
उन्होंने कहा , “साइबर सुरक्षा एक प्रकार से राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ भी जुड़ी है। जो हमारे देश को सुरक्षित देखना नहीं चाहते वह अनेक प्रकार के साइबर हमले का प्रयोजन भी करते हैं। कुछ देशों ने तो इसके लिए साइबर आर्मी भी बनाई हुई है। मगर भारत सरकार का गृह मंत्रालय भी इससे निपटने के लिए पूरी तरह से चौकन्ना है और हर कदम पर इसकी रोकथाम के लिए हम अपने आप को अपग्रेड भी कर रहे हैं। ” उन्होंने कहा कि साइबर फ्रॉड के कई नए आयाम आने वाले दिनों में देखने में आएंगे, साइबर स्पेस सुरक्षा के संदर्भ में भी तैयारी करना जरूरी है। नागरिकों की निजता, महत्वपूर्ण सूचनाओं की सुरक्षा के संदर्भ में अधिक सतर्कता बरतने की जरूरत है।
उन्होंने कहा कि ‘डेटा’ और ‘इंफॉर्मेशन’ यह दोनों आने वाले दिनों में बहुत बड़ी आर्थिक ताकत बनने वाली है इसीलिए डेटा और इंफॉर्मेशन की सुरक्षा के लिए भी देश को तैयार रहना होगा। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया ,“ संस्कृति और गृह मंत्रालय ने साइबर अपराधों के संदर्भ में व्यापक जन जागरूकता फैलाने के लिए जो पहल की है उससे जब देश आजादी की शताब्दी मना रहा होगा तब ना सिर्फ़ साइबर सुरक्षा की दृष्टि से देश सुरक्षित होगा बल्कि दुनिया में सबसे ज्यादा सुरक्षित साइबर माहौल अगर दुनिया में कहीं पर भी होगा तो भारत में होगा।
” शाह ने कहा कि आज के युग में साइबर सुरक्षा के बिना देश के विकास की कल्पना करना संभव नहीं है। उन्होंने कहा, “ अगर हम साइबर सुरक्षा को सुनिश्चित नहीं करते हैं, तो हमारी यही ताक़त हमारे लिए बहुत बड़ी चुनौती बन जाएगी। इसीलिए डिजिटल रिवॉल्यूशन के ज़माने में साइबर सुरक्षा कीचुनौतियां और उनके समाधान को ढूंढने और हर व्यक्ति तक साइबर सुरक्षा की जानकारी पहुंचाने के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है।

देश-सेना और देशभक्त लोगों के हक में है, योजना

देश-सेना और देशभक्त लोगों के हक में है, योजना

नरेश राघानी
जयपुर। सेनाओं में अल्पकालिक अवधि के लिए संविदा नियुक्ति के आधार पर युवाओं की भर्ती की केंद्र सरकार की ‘अग्निपथ’ योजना का बचाव करते हुए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने सोमवार को कहा कि यह योजना किसी के खिलाफ नहीं बल्कि देश, सेना और देशभक्त लोगों के हक में है। पूनिया ने कहा कि युवाओं को हिंसा से बचना चाहिए और योजना के फायदों को समझना चाहिए। उन्होंने कहा, “यह योजना किसी के खिलाफ नहीं है। यह भारत, सैन्य और देशभक्त लोगों के हक में है।
चार साल की सेवा के बाद बाहर आने वाले अग्निवीरों को कई तरह से नौकरी के अवसर मिलेंगे।” पूनिया ने कहा कि सार्वजनिक संपत्ति और हिंसा को नुकसान पहुंचाना देशभक्ति नहीं है। उन्होंने कहा, “यह देश को मजबूत बनाने की योजना है और युवाओं को इसे समझना चाहिए।” भाजपा के हिंदुत्व के एजेंडे पर काम करने के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आरोपों पर पूनियां ने कहा कि बहुसंख्यक लोगों के भी मानवाधिकार हैं और अगर उनका उल्लंघन होता है तो इसके बारे में बोलना हिंदुत्व नहीं है।
उन्होंने गहलोत पर अल्पसंख्यक समुदाय के तुष्टीकरण के लिए काम करने का आरोप लगाया। पूनियां ने कहा कि अलवर में मेवात क्षेत्र में कांग्रेस के शासन में “भूमि जिहाद”, “लव जिहाद”, साइबर और अन्य अपराधों के मामले देखे गए हैं। पूनियां ने उम्मीद जताई कि उनकी पार्टी 2023 का विधानसभा चुनाव जीतेगी और राज्य में अगली सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा कि उनका लक्ष्य पार्टी को विधानसभा चुनाव में जीत दिलाना है। पूनिया ने कहा कि पार्टी आलाकमान सही समय पर तय करेगा कि मुख्यमंत्री का उम्मीदवार कौन होगा।
अशोक गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए पूनियां ने कहा कि राज्य सरकार अपने चुनावी वादों को पूरा करने में विफल रही है। उन्होंने कहा, “राजस्थान में बेरोजगारी की दर देश में सबसे अधिक, 32 प्रतिशत है। कानून-व्यवस्था बिगड़ी हुई है और महिलाओं के खिलाफ अपराध एक चुनौती बना हुआ है।” उन्होंने कहा, “कांग्रेस की अंदरूनी कलह ने राजकाज को प्रभावित किया है। ऐसी सरकार से न्याय की उम्मीद नहीं की जा सकती जो अंदरूनी कलह से जूझ रही हो।
” उन्होंने कहा, “कांग्रेस के साढ़े तीन साल के शासन ने राज्य के लोगों को निराश किया है। लोग दुखी हैं।” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के आठ साल के शासन पर पूनियां ने कहा कि लोगों ने मोदी शासन में देश को बदलते देखा है। प्रदेश अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल में किए गए कार्यों पर प्रकाश डालते हुए पूनिया ने कहा कि पार्टी के ढांचे को मजबूत किया गया और बूथ स्तर पर पार्टी की उपस्थिति बढ़ाई गई। पूनिया ने बताया कि पार्टी कार्यकर्ताओं का राज्य स्तरीय प्रशिक्षण शिविर सिरोही में 10 से 12 जुलाई तक आयोजित होगा।

विपक्षी दलों व विशेषकर कांग्रेस पर भाजपा का पलटवार

विपक्षी दलों व विशेषकर कांग्रेस पर भाजपा का पलटवार 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। भाजपा ने सोमवार को सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए नई अग्निपथ योजना का राजनीतिकरण करने के लिए विपक्षी दलों, विशेषकर कांग्रेस पर पलटवार किया। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि विपक्षी दल सशस्त्र बलों में सुधार का राजनीतिकरण कर रहे हैं।
पात्रा ने कहा, "अग्निपथ एक ऐसी योजना है, जिसका राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए। देश और सशस्त्र बलों से संबंधित मुद्दों का राजनीतिकरण देखकर दुख होता है, लेकिन कुछ लोग राष्ट्रीय सुरक्षा को दरकिनार कर अपनी गंदी राजनीति करते हैं। आज, लेफ्टिनेंट जनरल पुरी ने जिस तरह से समझाया, उसके बाद योजना, सभी आशंकाओं को दूर कर दिया गया है।"
पात्रा ने कहा कि "यह बहुत दुखद है कि युवाओं को कुछ ऐसे लोगों द्वारा गुमराह किया जा रहा है जो नहीं चाहते कि प्रधानमंत्री के 'रिफॉर्म, परफॉर्म एंड ट्रांसफॉर्म' के विजन को सफल बनाया जाए।
जंतर मंतर पर कांग्रेस के 'सत्याग्रह' का जिक्र करते हुए पात्रा ने कहा कि कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी को पहले सुधार की मांग करनी चाहिए थी, उन्होंने (प्रियंका) तब कुछ नहीं कहा था लेकिन अब सत्याग्रह कर रही हैं। यह किस तरह का सत्याग्रह है? उन्होंने कुछ नहीं किया। जब हमारी वायुसेना 10 साल से कम ताकत के साथ काम कर रही थी। हम राफेल लाए, उन्होंने इसका राजनीतिकरण किया और अब, फिर से, वे अग्निपथ का राजनीतिकरण कर रहे हैं।
केंद्र सरकार ने कहा है कि चार साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद बाहर आने वाले 75 फीसदी युवाओं को पुलिस और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों में ठहराया जाएगा।

अभियान: पुलवामा में मुठभेड़, 1 आतंकी की मौंत

अभियान: पुलवामा में मुठभेड़, 1 आतंकी की मौंत 

इकबाल अंसारी  
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सोमवार तड़के हुई एक मुठभेड़ में एक आतंकवादी की मौंत हो गई है। जिसकी जानकारी अधिकारियों ने दी। उन्होंने कहा कि यहां के चटपोरा इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में मिली खुफिया जानकारी के आधार पर घेराबंदी और तलाशी अभियान चलाया गया, जिस दौरान मुठभेड़ हो गई।
एक सुरक्षा अधिकारी ने कहा, 'जैसे ही सुरक्षा बलों की संयुक्त टीम ने संदिग्ध स्थान की घेराबंदी की, छिपे हुए आतंकवादियों ने गोलियां चला दीं, जिससे मुठभेड़ शुरू हो गई। इसमें एक आतंकवादी मारा गया है। पुलिस ने ट्वीट कर कहा, 'एक आतंकवादी ढेर हुआ है। आगे की जानकारी के मिलने की प्रतीक्षा है।'यह रविवार के बाद से तीसरी मुठभेड़ है। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा और कुलगाम जिले में रविवार को हुई दो मुठभेड़ों में आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के एक पाकिस्तानी सहित दो आतंकवादियाें को मार गिराया गया था।

लोकेश ने 72, अर्जुन ने 76 फीसदी अंक हासिल किए

लोकेश ने 72, अर्जुन ने 76 फीसदी अंक हासिल किए

अश्वनी उपाध्याय/भानु प्रताप उपाध्याय      
गाजियाबाद/सहारनपुर। उत्तर-प्रदेश के सहारनपुर के लोकेश ने 12वीं कक्षा में 72 फीसदी और गाजियाबाद के अर्जुन ने 10वीं में 76 फीसदी अंक हासिल किए हैं। जो बात इन दोनों को अन्य छात्रों से अलग करती है, वह यह है कि दोनों जेल में बंद हैं और अपनी परीक्षा सलाखों के पीछे से दिए। जेल अधिकारियों के मुताबिक, लोकेश सहारनपुर जेल में बंद है और उसे अपहरण और एक महिला को शादी के लिए मजबूर करने के मामले में दोषी ठहराया गया है।
लोकेश पर मई 2018 में अपने ही रिश्तेदार की नाबालिग बेटी का अपहरण करने और उसे बस से करनाल जिले ले जाने का आरोप था।
बाद में नाबालिग के अपहरण और शादी के लिए मजबूर करने के आरोप में उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई।
उसे 30 सितंबर, 2021 को 10 साल की सजा के साथ आरोपों में दोषी ठहराया गया था।
हालांकि, जेल में बंद रहने के बाद से लोकेश हमेशा से पढ़ना और खुद को सुधारना चाहता था।
अधिकारी ने कहा, "उसकी अंग्रेजी और इतिहास में गहरी दिलचस्पी थी, जिसके लिए हमने जेल में ही सारी किताबें उपलब्ध करा दी थीं।" वह 12वीं की परीक्षा में बैठने वाले कैदियों में टॉपर है।
हत्या का आरोपी अर्जुन सिंह गाजियाबाद जेल में बंद है। उन्होंने कक्षा 10 में 76 प्रतिशत अंक प्राप्त किए और गणित और विज्ञान में असाधारण रूप से अच्छा प्रदर्शन किया।
जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अर्जुन का मामला विचाराधीन है, इसलिए वे टिप्पणी करने में सक्षम नहीं होंगे, लेकिन उन्होंने कहा कि वह आगे पढ़ना चाहते हैं और पढ़ाई में अपनी रुचि को आगे बढ़ाना चाहते हैं।
उत्तर प्रदेश की विभिन्न जेलों में बंद 200 से अधिक कैदी न केवल यूपी बोर्ड की हाई स्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं में शामिल हुए।
शनिवार को घोषित परिणामों में उत्तर प्रदेश में जेल के कैदियों ने इस साल हाईस्कूल में 90 फीसदी और इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा में 70 फीसदी सफलता हासिल की है।
जेल अधिकारियों ने कहा कि 2022 में 14 जिलों के कैदियों ने परीक्षा दी थी। कक्षा 12 की परीक्षा देने वाले 99 कैदियों में से 67 ने इसे पास किया, जबकि हाई स्कूल की परीक्षा में शामिल हुए 119 कैदियों में से 104 ने परीक्षा पास की।
जेल महानिदेशक आनंद कुमार ने कहा कि प्रदेश की जेलों में काफी बदलाव आया है। "हमारे पास लगभग सभी जेलों में पुस्तकालय और अध्ययन की सुविधाएं हैं।"
अधिकारी ने आगे कहा, "अगर किसी कैदी को पढ़ाई में मदद या सहायता की जरूरत है, या यहां तक कि अपने शौक को भी पूरा करना है तो जेल कर्मचारी पूरी सहायता प्रदान करते हैं। हम उन कैदियों को प्रोत्साहित करते हैं जो अपने किसी भी शौक का अध्ययन या पीछा करने के इच्छुक हैं।

भाजपा की ‘भेदभाव की राजनीति’ करार: शिवसेना

भाजपा की ‘भेदभाव की राजनीति’ करार: शिवसेना

कविता गर्ग
मुंबई। शिवसेना ने सोमवार को दावा किया कि जेल में बंद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) विधायकों नवाब मलिक और अनिल देशमुख को राज्य विधान परिषद चुनाव में वोट देने की अनमुति नहीं दिया जाना, इन दोनों निर्वाचित प्रतिनिधियों के अधिकारों को रौंदने के समान है। कहा गया है कि इस महीने की शुरुआत में गंभीर बीमारियों से जूझ रहे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दो विधायकों को महाराष्ट्र से राज्यसभा चुनाव के दौरान वोट देने के लिए एम्बुलेंस में लाया गया था। शिवसेना ने इसे भाजपा की ‘‘भेदभाव की राजनीति’’ करार दिया।
धन शोधन के अलग-अलग मामलों में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किए गए महाराष्ट्र के मंत्री मलिक और राज्य के पूर्व गृह मंत्री देशमुख दोनों फिलहाल जेल में हैं। बंबई उच्च न्यायालय ने महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में मतदान करने के लिए जेल से अस्थायी रिहाई का अनुरोध करने वाली दोनों नेताओं की याचिकाएं शुक्रवार को खारिज कर दी थीं।
विधान परिषद की 10 सीटों के चुनाव के लिए सोमवार को मतदान हो रहा है।
सत्तारूढ़ सहयोगी दलों शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस ने दो-दो उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे हैं, जबकि भाजपा के पांच उम्मीदवार मैदान में हैं। राज्य की छह सीट पर 10 जून को हुए राज्यसभा चुनाव में शिवसेना के दूसरे उम्मीदवार भाजपा से हार गए थे। ‘सामना’ के संपादकीय में कहा गया है कि देशमुख और मलिक की विधानसभा सदस्यता अभी बरकरार है और उन्हें सभी आवश्यक सुरक्षा व्यवस्था के साथ मतदान के वास्ते एक घंटे के लिए लाया जा सकता था।
मराठी प्रकाशन ने दावा किया, ‘‘उन्हें वोट देने के अधिकार से वंचित करना दो निर्वाचित प्रतिनिधियों के अधिकारों को कुचलने के समान है।’’ उन्होंने कहा कि यह ‘‘भेदभाव की राजनीति’’ है। प्रवर्तन निदेशालय ने अदालत में इन दोनों नेताओं की याचिकाओं का विरोध किया था, जिस पर शिवसेना ने कहा कि ‘‘केंद्रीय एजेंसी उच्चतम न्यायालय नहीं है’’।
पार्टी ने कहा, ‘‘लेकिन मुक्ता तिलक और लक्ष्मण जगताप (दोनों भाजपा से) गंभीर बीमारी की स्थिति में होने के बावजूद (राज्यसभा चुनाव में) मतदान के लिए लाए गए… जब राजनीतिक स्वार्थ की बात आती है, तो मानवता को कुचल दिया जाता है और उन्हें (तिलक और जपताप को) मतदान के लिए स्ट्रेचर पर लाया जाता है। भाजपा अपने राजनीतिक लक्ष्य को हासिल करने के लिए किसी भी स्तर तक गिर सकती है।
’ संपादकीय में कहा गया है, ‘‘केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग किया जा रहा है, लेकिन अगर अदालत भी होश खो देगी तो क्या होगा?’’ शिवसेना ने कहा कि दूसरी ओर, जेल की सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम को एक महीने की पैरोल दी गई थी। उसने कहा कि उसे पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले भी इसी तरह की रियायत दी गई थी।

महिंद्रा ने अग्निवीरों को नौकरी देने का फैसला लिया

महिंद्रा ने अग्निवीरों को नौकरी देने का फैसला लिया 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। सैनिक बन कर देश की सेवा कर सेवानिवृत होने वाले अग्निवीरों को देश के प्रमुख उद्योग पति महिंद्रा ग्रुप के मालिक आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर नौकरी देने का फैसला लिया है। आनंद महिंद्रा का यह अहम फैसला उन अग्निवीरों के लिए खुशखबरी है, जो अपने भविष्य के लिए चिंतित हैं और केंद्र सरकार के अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे हैं।
आनंद महिंद्रा ने आगे लिखा है कि अग्निपथ कार्यक्रम को लेकर हुई हिंसा से दुखी हूं। जब पिछले साल इस योजना पर विचार किया गया था, तो मैंने कहा था और मैं फिर दोहराता हूं- अग्निवीरों द्वारा हासिल किया गया अनुशासन और कौशल उन्हें प्रमुख रूप से रोजगार योग्य बना देगा। महिंद्रा समूह ऐसे प्रशिक्षित, सक्षम युवाओं की भर्ती के अवसर का स्वागत करता है।
आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर कहा कि कॉरपोरेट क्षेत्र में अग्निवीरों के लिए रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। नेतृत्व, टीम वर्क और शारीरिक प्रशिक्षण से लैस युवा हमारे उद्योग को आगे बढ़ाने का काम करेंगे। इन युवाओं में संचालन से लेकर प्रशासन और आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन तक का पूरा स्पेक्ट्रम शामिल है।
सेना ने किया तारीखों का एलान
वहीं सेना ने तीनों सेनाओं में भर्ती प्रक्रिया शुरू करने के लिए तारीखों का एलान भी कर दिया है। थलसेना ने कहा है कि उसकी भर्ती प्रक्रिया 1 जुलाई से शुरू हो जाएगी। वहीं वायुसेना की भर्ती प्रक्रिया 24 जून से शुरू होगी, जबकि नौसेना की भर्ती प्रक्रिया 25 जून से शुरू होगी। इस भर्ती में 17.5 वर्ष से 21 वर्ष तक के उम्मीदवार शामिल हो सकेंगे, हालांकि इस साल के लिए दो वर्षों की छूट भी दी गई है। यह भर्ती चार सालों के लिए होगी। इसके बाद परफॉर्मेंस के आधार पर 25 फीसदी कर्मियों को वापस रेगुलर कैडर के लिए नामांकित किया जाएगा।
बता दें कि उम्मीदवारों को सशस्त्र बलों में आगे नामांकन के लिए चुने जाने का कोई अधिकार नहीं होगा। चयन सरकार का अनन्य क्षेत्राधिकार होगा। मेडिकल ट्रेडमैन को छोड़कर भारतीय वायु सेना के नियमित कैडर में एयरमैन के रूप में नामांकन केवल उन्हीं कर्मियों को दिया जाएगा, जिन्होंने अग्निवीर के रूप में अपनी सेवा की अवधि पूरी कर ली है।

अग्निपथ: उम्मीदवारों ने सड़कों को अवरुद्ध किया

अग्निपथ: उम्मीदवारों ने सड़कों को अवरुद्ध किया

राणा ओबरॉय/अमित शर्मा
चंडीगढ़। हरियाणा के कुछ हिस्सों में सोमवार को सेना में भर्ती की नई अल्पकालिक ‘‘अग्निपथ योजना’’ के खिलाफ और अधिक विरोध-प्रदर्शन हुए और इसे वापस लेने की मांग करते हुए सशस्त्र बलों में जाने के इच्छुक उम्मीदवारों ने सड़कों को अवरुद्ध कर दिया। फतेहाबाद में युवाओं के एक समूह ने लाल बत्ती चौक को अवरुद्ध कर दिया, जबकि कई अन्य ने रोहतक जिले में सड़कों पर विरोध प्रदर्शन किया।
अधिकारियों ने बताया कि सेना, नौसेना और वायुसेना में चार साल की अवधि के लिए जवानों की भर्ती की नई योजना के खिलाफ हरियाणा और पंजाब में जारी विरोध के बीच दोनों राज्यों में प्रमुख प्रतिष्ठानों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। उन्होंने कहा कि किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए हरियाणा के अंबाला, रेवाड़ी और सोनीपत तथा पंजाब के लुधियाना, जालंधर और अमृतसर सहित रेलवे स्टेशनों पर बड़ी संख्या में पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया है।
पंजाब के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) ने रविवार को राज्य के सभी पुलिस आयुक्तों और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों को भेजे पत्र में कहा कि केंद्र सरकार के विभागों के कार्यालयों और प्रतिष्ठानों को कड़ी सुरक्षा की जरूरत है जबकि अन्य महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों के आसपास सुरक्षा बढ़ाए जाने की जरूरत है। पत्र में कहा गया है कि प्रदर्शन और भारत बंद का आह्वान सोशल मीडिया के माध्यम से किए जाने के मद्देनजर एडीजीपी ने कहा कि इसके लिए निधार्रित सोशल मीडिया प्रकोष्ठ को सक्रिय करने और उनकी गतिविधियों की निगरानी करने की आवश्यकता है। केंद्र ने पिछले मंगलवार को अग्निपथ योजना का खुलासा किया था जिसके तहत साढ़े 17 साल से 21 साल की उम्र के युवाओं को चार साल के कार्यकाल के लिए तीनों सेवाओं में शामिल किया जाएगा।
पच्चीस प्रतिशत रंगरूटों को नियमित सेवा के लिए रखा जाएगा। सरकार इस योजना को तीनों सेवाओं में युवाओं की संख्या बढ़ाने के लिए दशकों पुरानी चयन प्रक्रिया में बड़े बदलाव के रूप में पेश कर रही है। योजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन तेज होने के कारण बृहस्पतिवार को इस साल भर्ती के लिए ऊपरी आयु सीमा में छूट देकर इसे 23 साल कर दिया गया। नई योजना की घोषणा सेना में , कोविड-19 महामारी के कारण दो साल से अधिक समय से रुकी हुई भर्ती की पृष्ठभूमि में आई है।
गृह मंत्रालय ने शनिवार को घोषणा की कि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और असम राइफल्स में 10 प्रतिशत रिक्तियों को ‘अग्निवीर’ के लिए आरक्षित किया जाएगा और ऊपरी आयु सीमा में तीन साल की छूट भी दी गई है। इसके अलावा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पात्रता मानदंडों को पूरा करने वाले ‘अग्निवीरों’ के लिए रक्षा मंत्रालय में 10 प्रतिशत रिक्तियों को आरक्षित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है।

‘सशस्त्र’ कैडर आधार बनाने की कोशिश कर रहीं, भाजपा

‘सशस्त्र’ कैडर आधार बनाने की कोशिश कर रहीं, भाजपा

मिनाक्षी लोढी 
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सेना में भर्ती की नई ‘अग्निपथ’ योजना को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए सोमवार को आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नई रक्षा भर्ती के जरिए अपना ‘‘सशस्त्र’’ कैडर आधार बनाने की कोशिश कर रहीं है। इस योजना को सशस्त्र बलों का अपमान करार देते हुए बनर्जी ने इस बात पर भी आश्चर्य व्यक्त किया कि क्या भाजपा की योजना चार साल की सेवा अवधि के बाद इन ‘‘अग्निवीर’’ सैनिकों को अपने पार्टी कार्यालयों में ‘‘चौकीदार’’ के रूप में तैनात करने की है।
तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने विधानसभा में कहा, भाजपा इस योजना के तहत अपना सशस्त्र कैडर आधार बनाने की कोशिश कर रही है। वे चार साल बाद क्या करेंगे? पार्टी युवकों के हाथ में हथियार देना चाहती है। बनर्जी ने कहा कि भाजपा, 2024 में होने जा रहे लोकसभा चुनाव से पहले लोगों को ‘अग्निपथ’ जैसी योजनाओं के जरिए बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा, उन्होंने हर साल दो करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था, लेकिन अब वे देश के लोगों को इन योजनाओं के जरिए बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रहे है। इसके बाद, बनर्जी की टिप्पणी के विरोध में भाजपा के विधायकों ने विधानसभा से बर्हिगमन किया।

'अग्निवीर रिक्रूटमेंट रैली' नोटिफिकेशन जारी किया

'अग्निवीर रिक्रूटमेंट रैली' नोटिफिकेशन जारी किया

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। भारत सरकार की महत्‍वाकांक्षी अग्निपथ योजना के तहत अग्निवीरों की भर्ती के लिए भारतीय सेना ने 'अग्निवीर रिक्रूटमेंट रैली' नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इसके तहत उम्‍मीदवारों को ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन करना अनिवार्य है। इसके बाद भारतीय सेना की आधिकारिक वेबसाइट joinindianarmy.nic.in पर विजिट करना होगा। रजिस्‍ट्रेशन की प्रक्रिया जुलाई 2022 से शुरू होगी। जनरल ड्यूटी अग्निवीर टेक्निकल (एविएशन/एम्‍यूनेशन) अग्निवीर क्‍लर्क/ स्‍टोरकीपर टेक्निकल अग्निवीर ट्रेड्समैन 10वीं पास अग्निवीर ट्रेड्समैन 8वीं पास इतनी होगी सैलरी जारी नोटिफिकेशन के अनुसार, उम्‍मीदवारों की भर्ती 4 वर्षों के लिए की जाएगी। इस दौरान प्रत्‍येक वर्ष 30 दिनों की छुट्टी भी मिलेगी। सर्विस के पहले साल 30,000/- वेतन और भत्‍ते, दूसरे साल 33,000/- वेतन और भत्ते, तीसरे साल 36,500/- वेतन और भत्‍ते तथा आखिरी साल 40,000/- वेतन और भत्‍ते दिए जाएंगे। जनरल ड्यूटी पदों पर भर्ती के लिए उम्‍मीदवारों को कक्षा 10वीं में न्‍यूनतम 45 प्रतिशत नंबरों के साथ पास होना जरूरी है। टेक्निकल एविएशन और एम्‍यूनेशन पदों के लिए फिजिक्‍स, केमेस्‍ट्री, मैथ्‍स और इंग्लिश सब्‍जेक्‍ट्स में 50 प्रतिशत नंबरों के साथ 12वीं पास होना जरूरी है। क्‍लर्क/ स्‍टोरकीपर पदों के लिए उम्‍मीदवारों को किसी भी स्‍ट्रीम से न्‍यूनतम 60 प्रतिशत नंबरों के साथ 12वीं पास होना जरूरी है। अंग्रेजी तथा मैथ्‍स में 50 प्रतिशत नंबर होने जरूरी हैं। ट्रेड्समैन के पदों पर 10वीं और 8वीं पास की अलग-अलग भर्ती की जाएगी। सभी विषयों में 33 प्रतिशत नंबर होने अनिवार्य हैं। सभी पदों के लिए निर्धारित आयुसीमा 17.5 वर्ष से 23 वर्ष निर्धारित है। सर्विस के बाद मिलेगा ये चार साल की सर्विस पूरी होने के बाद अग्निवीरों को सेवा निध‍ि पैकेज, अग्निवीर स्किल सर्टिफिकेट और कक्षा 12वीं के समकक्ष योग्‍यता प्रमाणपत्र भी मिलेगा। जो उम्‍मीदवार 10वीं पास हैं उन्‍हें 4 साल के बाद 12वीं समकक्ष पास सर्टिफिकेट भी मिलेगा जिसकी पूरी जानकारी बाद में जारी की जाएगी।

तानाशाह का नाम लेकर पीएम पर विवादित बयान दिया

तानाशाह का नाम लेकर पीएम पर विवादित बयान दिया 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। कांग्रेस नेता सुबोध कांत सहाय ने जर्मनी के तानाशाह हिटलर का नाम लेकर पीएम मोदी पर विवादित बयान दिया है। सुबोध कांत सहाय ने अग्निपथ स्कीम के विरोध के दौरान कहा कि अगर पीएम मोदी हिटलर की राह चल रहे हैं और वे हिटलर की मौत मरेंगे। उन्होंने कहा, “हिटलर ने भी ऐसा ही एक संस्था बनाया था, उसका नाम था खाकी, सेना के बीच से उसने ये संस्था बनाया था, मोदी हिटलर की राह चलेगा तो हिटलर की मौत मरेगा। 
ये याद रख लो मोदी,” इससे पहले सुबोधकांत सहाय ने कहा कि भाजपा ने हमारी दो-दो तीन तीन चुनी हुई सरकारों को गिराने का काम किया है। मोदी जो मदारी के रूप में आके इस देश में पूरी तरह से तानाशाही के रूप में आ गया है। मुझे तो लगता है कि हिटलर का सारा इतिहास इसने पास कर लिया है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  

1. अंक-255, (वर्ष-05)
2. मंगलवार, जून 21, 2022
3. शक-1944, आषाढ़, कृष्ण-पक्ष, तिथि-अष्टमी, विक्रमी सवंत-2079।
4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:15।
5. न्‍यूनतम तापमान- 26 डी.सै., अधिकतम-32+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए

नगर निगम चुनाव में हर तरह के हथकंडे अपनाए अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। नगर निगम चुनाव की मतगणना के नतीजों पर अपनी खुशी जताते हुए...