गुरुवार, 10 अक्तूबर 2019

फूट डालने के अलावा कुछ नहीं किया

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़l कुमारी शैलजा कांग्रेस के संकल्प पत्र में समाज के सभी वर्गों के बीच भाईचारा कायम करने को प्राथमिकता दी जाएगी। क्योंकि मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार ने हरियाणा के लोगों में फूट डालने के अलावा कुछ किया ही नहीं है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने ये बातें गुरुग्राम के पास बादशाहपुर में कांग्रेस प्रत्याशी कमलवीर सिंह और फिरोज गांधी कॉलोनी के ग्रेट जाटव चौपाल में गुरुग्राम से कांग्रेस प्रत्याशी सुखबीर कटारिया के समर्थन में विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि शुक्रवार 11 अक्टूबर को कांग्रेस पार्टी चंडीगढ़ में अपना घोषणापत्र जारी करेगी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को निशाने पर लेते हुए कहा कि पांच साल में जिस तरह से सरकार चली है, उससे प्रदेश के लोग बेहद नाराज हैं। समाजिक फूट डालने, प्रदेश को बर्बादी की दिशा में मोड़ने, लोगों को आपस में लड़वाने, उद्योग धंधों को बंदी के कगार पर पहुंचाने, युवाओं से रोजगार छीनने, बुजुर्गों- महिलाओं का अपमान करने, सरकारी कर्मचारियों से वादाखिलाफी करने के अलावा हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की सरकार ने कुछ किया ही नहीं है। कांग्रेस की सरकार आते ही बेरोजगारों को वजीफे का प्रावधान किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपने संकल्प पत्र के जरिए प्रदेश के लोगों की हर उम्मीद को पूरा करने का काम करेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के वचन निभाने का रिकार्ड शानदार रहा है। हरियाणा के लोगों से पहले भी जो वादा किया जाता रहा, उसे सरकार बनने पर प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाता रहा है। कांग्रेस और भाजपा में सबसे बड़ा अंतर यही है। भाजपा ने सरकार बनाने से पहले घोषणापत्र में किए एक भी वायदे को पूरा करने का काम नहीं किया है। वादाखिलाफी की यही बात मुख्यमंत्री को कटघरे में खड़ा किए है। लोग भाजपा के लिए वोट मांगने वाले से पहले रिपोर्ट पेश करने की मांग करने लगे हैं।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस का घोषणापत्र समाज के सभी तबकों के लोगों से गहन परामर्श के बाद तैयार किया गया है। इसमें कांग्रेस की सरकार आने के साथ ही सबकी उम्मीद पूरी होने की बात है। रविवार दोपहर को चंडीगढ़ के सेक्टर नौ स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में संकल्प पत्र जारी करने के अलावा कालका विधानसभा क्षेत्र के पिंजौर स्थित चौना चौक पर औऱ पंचकुला के वीर गागर और सेक्टर 16 में जनसभाओं को संबोधित करेंगी।


राजस्थान के मालपुरा ने बिगाड़े हालात

 कश्मीर घाटी से भी सख्त हैं टोंक के मालपुरा का कफ्र्यू। 
मासूम बच्चों को दूध तक नसीब नहीं। 
पुलिस के डंडे ने अखबार भी नहीं बटने दिया। 
सांसद जौनपुरिया का अहम सवाल।


राजस्थान के टोंक जिले के मालपुरा कस्बे में लगातार दूसरे दिन भी सख्त और अमानवीय कफ्र्यू लगा रहा। 8 अक्टूबर को राम बारात पर पथराव की घटना के बाद से ही मालपुरा के हालात बिगड़ गए। प्रशासन ने तत्काल कफ्र्यू लगा दिया। कफ्र्यू भी ऐसा कि गर्भवती महिलाओं और नवजात बच्चो को दूध तक नहीं मिल रहा है। कफ्र्यू की सख्ती का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि दैनिक समाचार पत्रों का वितरण तक नहीं हो रहा है। 8 अक्टूबर की रात से ही इंटरनेट सेवाएं बंद हैं। लोगों को घरों से नहीं निकलने दिया जा रहा है। बीमार व्यक्ति इलाज के लिए अस्पताल भी नहीं पहुंच रहा है। स्कूल-कॉलेज, सरकारी दफ्तर बैंक  आदि सब बंद हैं। कफ्र्यू की इतनी सख्ती से आम आदमी बुरी तरह परेशान हैं। आरोप यह है कि राम बारात पर पत्थर फेंकने वालों के खिलाफ कार्यवाही भी नहीं हो रही है। कफ्र्यू में कब ढील दी जाएगी अभी कहा नहीं जा सकता। संभागीय आयुक्त हनुमान सहाय मीणा, आईजी संजीव नर्जरी, टोंक कलेक्टर केेके शर्मा, एसपी आदर्श सिद्धू आदि बड़े अधिकारी  मालपुरा में कैम्प कर हालात को सुधारने में लगे हुए हैं। दोनों पक्षों के प्रतिनिधियों के साथ प्रशासन संवाद कर रहा है। 
कश्मीर घाटी से भी सख्त है कफ्र्यू :
राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार है और टोंक से प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट विधायक हैं। गुलाम नबी आजाद से लेकर कांग्रेस के सभी बड़े नेता कश्मीर घाटी में लगी पाबंदियों को कफ्र्यू बता रहे हैं। आरोप है कि सख्त कफ्र्यू से कश्मीरी परेशान हैं। जबकि हकीकत यह है कि श्रीनगर से सभी दैनिक समाचार पत्र छप रहे हैं तथा घाटी में सभी नागरिकों को खाने पीने से लेकर चिकित्सा सुविधा तक उपलब्ध करवाई जा रही है। गर्भवती महिलाओं और बच्चों को दूध भी मिल रहा है। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने के बाद पांच अगस्त से धारा 144 के अंतर्गत पाबंदियां लगाई गई थीं। जम्मू से लेकर लद्दाख तक के अस्सी प्रतिशत क्षेत्र से सभी पाबंदियां हटा ली गई। लेकिन घाटी के पांच छह जिलों में अभी कुछ पाबंदियां लगी हुई हैं। ऐसी पाबंदियों को ही कांग्रेस के नेता अमानवीय कफ्र्यू बता रहे हैं। 
भाजपा सांसद का सवाल :
टोंक के भाजपा सांसद सुखवीर जौनपुरिया ने मालपुरा की घटना पर सवाल उठाया कि जब मुस्लिम समुदाय के सभी धार्मिक आयोजन बगैर किसी बाधा के सम्पन्न होते हैं तब हिन्दुओं के धार्मिक आयोजनों पर पथराव क्यों होता है? उन्होंने कहा कि वे इस मुद्दे पर कोई राजनीति नहीं करना चाहते, लेकिन हिन्दू समुदाय को भी अपने तीज त्यौहार मानने का पूरा अधिकार है। उन्होंने कहा कि इस मामले में प्रशासन को गंभीरता दिखाते हुए मालपुरा के लोगों को जल्द से जल्द कफ्र्यू से राहत देनी चाहिए। कफ्र्यू की वजह से मालपुरा के लोग बेहद परेशान है। 
एस.पी.मित्तल


स्कूल की पानी की टंकी में जहर मिलाया

चूरू के प्राइवेट स्कूल की पानी की टंकी में जहर मिलाया। 
45 बच्चे अस्पताल में भर्ती। यह तो बहुत ही अमानवीय वारदात है। 

चूरू! राजस्थान के चूरू के भालेर क्षेत्र के ड्रीमलैंड सीनियर सैकंडरी स्कूल की पानी की टंकी और मटकों में किसी अज्ञात व्यक्ति ने जहर (कीटनाशक पदार्थ) जहार मिला दिया। फलस्वरूप 10 अक्टूबर को पानी का सेवन करने वाले 45 बच्चों को डीबी अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा। 11 बच्चों की हालत नाजुक बताई जा रही है। इस घटना से चूरू क्षेत्र में अफरा तफरी मच गई है। अस्पताल के चिकित्सक बच्चों को बचाने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं। जानकारों की माने तो किसी अज्ञात व्यक्ति ने जानबूझकर पीने के पानी की टंकी और मटकों में विषाक्त पदार्थ मिलाया है। यह निजी स्कूलों की प्रतिद्वंद्विता भी हो सकती है। लेकिन यह कृत्य बहुत ही अमानवीय है। जिन बच्चों ने कोई गलत नहीं की उन्हें सजा दी गई है। सवाल उठता है कि जहर मिलाने वाले व्यक्ति ने यह क्यों नहीं सोचा की उसके कृत्य से सैकड़ों मासूम बच्चों की जान भी जा सकती है। अभिभावक अपने बच्चों को सुयोग्य नागरिक बनाने के लिए स्कूल भेजते हैं। चूंकि प्राइवेट स्कूलों में ज्यादा सुरक्षा व्यवस्था और पढ़ाई होती है, इसलिए सरकारी स्कूलों के मुकाबले में प्राइवेट स्कूलों को तरजीह दी जाती है। अनेक अभिभावकों की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के बाद भी बच्चों के भविष्य के लिए महंगे प्राइवेट स्कूलों में प्रवेश दिलवाया जाता है। चूरू के जिस प्राइवेट स्कूल में यह अमानवीय वारदात हुई उसका नाम ड्रीमलैंड स्कूल है। जब अभिभावक अपने बच्चों के सपने पूरे करने के लिए इस स्कूल में प्रवेश दिलवा रहे हैं, तब बच्चों को जहर पीने को मिले तो यह बहुत ही शर्मनाक बात है। प्रशासन को इस मामले में तत्काल और सख्त कार्यवाही करते हुए जहर मिलाने वाले व्यक्ति का पता लगा कर सजा दिलवानी चाहिए। यदि यह घटना प्राइवेट स्कूलों की आपसी प्रतिद्वंद्वीता की वजह से हुई है तो सरकार को और ज्यादा सख्त रुख अपनाने की जरूरत है। इस घटना को मामूली घटना मानकर टाला नहीं जा सकता है। इस मामले में स्कूल के संचालकों से भी सख्त पूछताछ होनी चाहिए, क्योंकि स्कूल की पानी की टंकी और मटकों की सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी संचालकों की है। 
एस.पी.मित्तल


उपचुनाव जीतेगी कांग्रेस:सचिन पायलट

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा-खींवसर और मंडावा उपचुनाव जीतेंगे। 
पर मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने कहा-मैं चुनाव हरवा भी सकता हूं। 
मंत्रियों का अपना-अपना अंदाज। 

जयपुर! राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा कि 21 अक्टूबर को नागौर के खींवसर और झुंझनंू के मंडावा के उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशियों की जीत होगी। वहीं मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कहेंगे तो मैं मंडावा की कांग्रेस प्रत्याशी रीटा चौधरी को चुनाव जीतवा दूंगा नहीं तो हरवा भी सकता हंू। बड़बोले मंत्री ने एक सार्वजनिक सभा में दावा किया कि एससी वर्ग के मतदाता उन्हीं के इशारे पर वोट डालते हैं। मंत्री मेघवाल ने यह भी कहा कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का फोन आया था। गहलोत ने आग्रह किया कि मंडावा में चुनाव प्रचार किया जाए ताकि कांग्रेस की जीत हो सके, लेकिन मैंने दो टूक शब्दों में मुख्यमंत्री को कह दिया कि मैं 12 अक्टूबर से पहले मंडावा नहीं जा सकता हंू। मेरे कार्यक्रम पहले से ही तय हैं। इसलिए मुख्यमंत्री कहेंगे तो 12 अक्टूबर के बाद चुनाव प्रचार करने मंडावा चला जाऊंगा। मैं मंडावा में कांग्रेस प्रत्याशी को हरवा भी सकता हंू। मंत्री मेघवाल का यह वीडियो अब टीवी चैनलों पर दिखाया जा रहा है। मेघवाल के इस बयान से साफ प्रतीत होता है कि उपचुनावों को लेकर सरकार के मंत्रियों का अंदाज अलग अलग है। एक ओर डिप्टी सीएम पायलट जीत का दावा कर रहे हैं तो वहीं मंत्री मेघवाल कांग्रेस को ही हराने की बात कह रहे हैं। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस ने मंडावा से रीटा चौधरी को उम्मीदवार बनाया है। जबकि खींवसर से पूर्व मंत्री हरेन्द्र मिर्धा का कांग्रेस के उम्मीदवार है। 
भाजपा मंडल अध्यक्ष कांग्रेस में शामिल :
10 अक्टूबर को नागौर के खींवसर में भाजपा को तब झटका लगा जब खींवसर मंडल अध्यक्ष शंकर लाल 21 भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए। मालूम हो कि भाजपा ने खींवसर की सीट आरएलपी को समझौते में दी है। नागौर के सांसद और आरएलपी के संयोजक हनुमान बेनीवाल ने अपने भाई नारायण बेनीवाल को उम्मीदवार बनाया है। देखना होगा कि भाजपा के मंडल अध्यक्ष के कांग्रेस में शामिल होने से कांग्रेस को कितना फायदा होता है। भाजपा मंडल अध्यक्ष के कांग्रेस में शामिल होने के समय पूर्व सांसद ज्योति मिर्धा, नागौर के कांग्रेस अध्यक्ष जाकिर हुसैन, वरिष्ठ नेता डॉ. सहदेव चौधरी आदि उपस्थित रहे। 
एस.पी.मित्तल


कांग्रेस शासन में हिंदू भयभीत

कांग्रेस के शासन में हिन्दुओं में भय का माहौल। 
टोंक के मालपुरा में गहलोत सरकार का तंत्र विफल। 
भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया का सरकार पर हमला। 
भाजपा की नई टीम दिसम्बर में।


जयपुर! प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनिया से मोबाइल पर मेरा संवाद हुआ। पूनिया ने बताया कि मेरे द्वारा प्रतिदिन लिखे जाने वाले ब्लॉग को पढ़ते हैं। उनके निर्वाचन क्षेत्र आमेर की पानी की समस्या पर पूर्व में लिखे ब्लॉग को पूनिया ने स्वयं के लिए मददगार बताया। 10 अक्टूबर को पूनिया से प्रदेश के ताजा हालातों पर लम्बी चर्चा हुई। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के गृह जिले टोंक के मालपुरा में लगे कफ्र्यू के ताजा हालातों पर पूनिया ने कहा कि मालपुरा में षडय़ंत्र के तहत दशहरे वाले दिन 8 अक्टूबर को राम बारात पर पथराव किया गया। पथराव के दृश्य कैमरे में कैद न हो, इसलिए पहले ही तार काट दिए गए। यानि कुछ लोग षडय़ंत्र करते रहे और प्रशासन को खबर तक नहीं लगी। मालपुरा में कफ्र्यू लगाकर सरकार और प्रशासन अपनी नाकामियों को छिपा रहा है। इससे ज्यादा अमानवीय बात और क्या हो सकती है कि डेयरियों पर दूध का वितरण नहीं हुआ तथा हॉकरों को अखबार नहीं बांटने दिए गए। राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद मालपुरा में यह दूसरा अवसर है जब ऐसी वारदात हुई है। पिछले दस माह में जयपुर में छह बार साम्प्रदायिक तनाव हुआ है। खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले में भी ऐसी घटाएं हो रही हैं। पूनिया ने कहा कि कांग्रेस के शासन में हिन्दुओं में भय का माहौल हो जाता है। कुछ लोगों को लगता है कि कांग्रेस के शासन में उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा। पूनिया ने कहा कि हिन्दुओं के धार्मिक कार्यक्रमों में वारदात करने वालों को ही सरकार का संरक्षण मिलता है। इसलिए प्रदेश भर में हालात बिगड़ रहे हैं। सरकार को हिन्दुओं में डर की भावना को दूर करना चाहिए। कानून व्यवस्था का भी बुरा हाल है। आए दिन नाबालिग लड़कियों से दुष्कर्म हो रहे हैं। बच्चियों का घर से अकेले निकलना मुश्किल हो रहा है। बालात्कार ही नहीं, बल्कि सामूहिक बालात्कार और हत्या जैसे अपराध बढ़ रहे हैं। राजस्थान में कांग्रेस के दस माह के शासन में सरकार विरोधी माहौल बन गया है। आमतौर पर किसी सरकार की कार्यकुशलता को तीन चार तक आंका जाता है, लेकिन अब दस माह में ही प्रदेश की जनता कांग्रेस से पीछा छुड़ाना चाहती है। अब यूपी जैसे प्रदेश में कानून व्यवस्था सुधर रही है, जबकि राजस्थान में हालात बेहद खराब हैं। सरकार के डिप्टी सीएम सचिन पायलट स्वयं भी कानून व्यवस्था पर चिंता जता चुके हैं। 
बुनियादी विकास और 370 हटाने का असर:
21 अक्टूबर को होने वाले खींवसर और मंडावा के उपचुनाव नवम्बर में 52 स्थानीय निकायों तथा फिर पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों के संबंध में पूनिया ने कहा कि जिस प्रकार लोकसभा चुनाव में भाजपा की एक तरफा जीत हुई, उसी प्रकार आने वाले चुनाव के परिणाम भी रहेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पहले कार्यकाल में घर घर शौचालय से लेकर नि:शुल्क रसोई गैस कनेक्शन दिए गए। आयुष्मान भारत योजना में पांच करोड़ परिवारों को पांच लाख तक की चिकित्सा सुविधा, प्रत्येक किसान को छह हजार रुपए प्रति वर्ष का नकद भुगतान जैसे योजनाओं के जरिए बुनियादी विकास हुआ। इसका लाभ शहर से ज्यादा ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को मिला। दूसरे कार्यकाल की शुरुआत में जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने का ऐतिहासिक फैसला हुआ। अब देश की जनता को लगता है कि मोदी कार्यकाल में ही देश का विकास और सुरक्षा संभव है। 370 को निष्प्रभावी कर आतंकवाद का सफाया किया गया है। 
दिसम्बर में नई टीम:
एक सवाल के जवाब में पूनिया ने कहा कि नवम्बर में होने वाले स्थानीय निकायों के चुनाव के बाद प्रदेश भाजपा के नए पदाधिकारियों की घोषणा की जाएगी। एक व्यक्ति एक पद का नियम सांसद और विधायकों पर लागू नहीं होगा। नई टीम में कर्मठ कार्यकर्ताओं को तरजीह दी जाएगी। 
एस.पी.मित्तल


ग्राम विकास के लिए दो दिवसीय कार्यशाला

ऋषिकेश! स्वर्गाश्रम जोंक स्थित परमार्थ निकेतन में ग्राम पंचायत विकास योजना अभियान के तहत दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन हुआ है। जिसका शुभारंभ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दीप प्रज्वलित करके किया। इस कार्यक्रम में पंचायती राज से जुड़े अधिकारी हिमालय क्षेत्रों के गांवों में विकास के लिए चलाई जा रही योजनाओं पर विचार विमर्श करेंगे।


गुरुवार को परमार्थ निकेतन में दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम का शुभारंभ करने पहुंचे राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि गांवों में विकास को किस प्रकार गति दी जाए इसके लिए रूपरेखा तैयार करने के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया है। पंचायती राज के अधिकारी इस मुद्दे पर विचार विमर्श के बाद सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे। कहा कि सरकार हिमालय क्षेत्रों में बसे गांवों के विकास के लिए लगातार विकास योजनाएं बना रही हैं। लेकिन योजनाओं का लाभ पात्र लोगों को नहीं मिल पा रहा है। सरकार ने इस संबंध में चिंतित है। दो दिन तक चलने वाली कार्यशाला में कृषि, बागवानी, भूमि के विकास के साथ ग्रामीणों को सिंचाई के लिए पानी की व्यवस्था और भूमि संरक्षण के मुद्दों पर गहनता से विचार विमर्श होगा। मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई है कि इस कार्यशाला के संपन्न होने के बाद गांव में पात्र लोगों को योजनाओं का लाभ जरूर मिलेगा। परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानंद मुनि ने कहा कि सरकार इस कार्यशाला के माध्यम से बेहतर दिशा में जा रही है। कहा कि लोगों को समझना चाहिए कि हम हिमालय नहीं है। हिमालय है तो हम हैं। हिमालय से हमें जीवन जीने का हौसला मिलता है। हिमालय दुश्मनों के लिए ढाल बनकर खड़ा है। अब हमारी बारी है कि हम हिमालय को बचाने की कोशिश करें। इसके लिए जल पर्यावरण को संरक्षित करने की जरूरत है।


खनन माफियाओं की पत्रकारों को धमकी

खबर का असर दो डंपर सीज खनन माफियाओं ने पत्रकारों को दी फर्जी मुकदमे की धमकी l


चौथे स्तंभ की स्वतंत्रता बाधित  करने का प्रयास  l 


रिपोर्ट-गुलफाम अली
हरिद्वार! रोशनाबाद सलेमपुर डेंसो चौक मैं परमिशन की आड़ में अवैध मिट्टी खनन का कारोबार धड़ल्ले से तमाम नियमों और कानूनों की धज्जियां उड़ाते हुए बेखौफ चल रहा था! इस संबंध में एक जागरूक पत्रकार द्वारा खबर का प्रकाशन किया गया जिसके चलते प्रशासन की कुंभकरण नींद टूटी व मौके पर जाकर प्रशासन ने जो भी देखा वह बेहद चौंकाने वाला था! क्योंकि छपी हुई खबर सच साबित हुई जितनी परमिशन मिट्टी उठान की थी! उससे कई गुना ज्यादा मिट्टी उठाई जा चुकी थी जिसमें खेत मालिक की भी भूमिका संदिग्ध नजर आई तहसीलदार आशीष घड़ियाल ने बताया की मौके पर दो डंपर सीज कर दिए गए हैं! वह अवैध रूप से परमिशन की आड़ में अवैध खनन कतई नहीं चल पाएगा इसकी रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी! आपको बताते चलें कि उबड़ खाबड़ जमीन को समतल करने के लिए परमिशन दिया जाता है! लेकिन परमिशन से हटकर अवैध रूप से कई गुना ज्यादा खनन किया जाना प्रशासन की आंखों में धूल झोंकने का काम करता है! बुधवार की शाम तहसीलदार द्वारा जब अचानक छापामार कार्रवाई की गई! जिस खेत की  परमीशन जमीन को समतल बनाने के लिए  दी   गई  थी! वहां से हटकर कई गुना ज्यादा मिट्टी उठान कर ली गई थी !जिस पर तुरंत कार्रवाई की गई वह दो डंपर सीज कर सिडकुल थाने भेजा गए l जिससे खनन माफियाओं में भय का माहौल देखा गया l समाचार प्रकाशन करने वाले पत्रकारों के विरुद्ध  प्रतिशोध की भावना से  बौखलाए खनन माफियाओं ने एकजुट होकर पत्रकारों के विरुद्ध फर्जी मुकदमा लिखवाने की चेतावनी दे डाली! जिससे पत्रकारों की स्वतंत्रता  बाधित होने व पत्रकारों को भया क्रांत करने  की साजिश की बू आ रही है! पत्रकारों के एक प्रतिनिधिमंडल ने  इसकी शिकायत प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया दिल्ली  के अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश श्री काटजू को प्रेषित की है l एसएसपी हरिद्वार से मांग है कि निर्भीक निडर लेखनी से अवैध कारनामों की खबरें शासन प्रशासन तक पहुंचाने वाले पत्रकारों की सुरक्षा का ध्यान रखें!


यातायात नियमों के प्रयोग की प्रेरणा

अविनाश श्रीवास्तव


गाजियाबाद! चौकी इंचार्ज हिंडन एयर फोर्स एसआई रामकुमार कुंतल ,टी एसआई भारत सिंह परिहार और समाजसेवी अखलाक सैफी द्वारा संयुक्त रूप से जनता को जागरूक करने हेतु ट्रैफिक रूल का पालन करने हेतु अभियान चलाया गया! जिसमें जनता को हेलमेट लगाने सीट बेल्ट लगाने एवं बिना दारू पिए गाड़ी चलाने के फायदे बताए गए एवं नियम कानून बताए गए एवं नियमों का उल्लंघन करने के कारण दुर्घटना एवं समाज को कितनी बड़ी क्षति होती है! उसके परिणाम से अवगत कराया गया! काफी जनता हिंडन एयर फोर्स चौराहे पर खड़ा होकर सुना एवं नियमों का पालन करने की शपथ ली गई!


विभिन्न मामलों में आधा दर्जन लोग गिरफ्तार

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद,मुरादनगर l पुलिस ने विभिन्न मामलों में आधा दर्जन से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया हैl सभी हंगामा वह झगड़ा कर रहे थेlथाना प्रभारी ओपी सिंह ने बताया कि थाना क्षेत्र के खुर्रमपुर गांव में शराब के नशे में दो युवकों ने जमकर हंगामा किया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मनीष व सुंदर को गिरफ्तार कर लिया । डिडौली  गांव में विक्रांत प्रशांत वह बबलू उमेश के बीच मामूली बात को लेकर झगड़ा हो रहा था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने चारों को गिरफ्तार कर लिया। इसके अलावा चर्च कंपाउंड में प्रमोद कुमार शर्मा का सूरज वह दीपक के बीच  झगड़ा हो गया था। झगड़े के दौरान दोनों पक्षों में मारपीट हो गई थी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सूरज वह दीपक को गिरफ्तार कर लिया। थाना प्रभारी ने बताया कि सभी को शांति भंग करने की धाराओं में एसडीएम कोर्ट में पेश किया हैl


अनियंत्रित गैस कैप्सूल्स सड़क पर पलटा

मोहित श्रीवास्तव


गाजियाबाद,मोदीनगर l दिन निकलते ही लोगों को जान की भीषण समस्या का सामना करना पड़ा l कारण मोदीनगर सिखेड़ा रोड के पास मेरठ रोड पर इंडियन ऑयल का कैप्सूल रोड पर अनियंत्रित होकर पलट गया था।और उसमें से ज्वलनशील पदार्थ लीक होने लगा ।हालांकि गनीमत रही कि कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। इंडियन आयल का कैप्सूल पलटने से देखते ही देखते मोदीनगर से मुरादनगर तक भीषण जाम लग गया। पुलिस को रूट डायवर्ट करने के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। वाहन चालक भी हाइवे पर घंटों जाम में फंसे हैं। सूचना पर फायर ब्रिगेड और स्थानीय पुलिस मौके पर सड़क पर गिरे इंडियन ऑल कैप्सूल को उठाकर एक तरफ करा कर यातायात सुचारू रूप से कराने के प्रयास में लगी है। लेकिन भीषण जाम के चलते उन्हें भारी परेशानियों का सामना सामना करना पड़ रहा है। हालांकि सड़क पर तेल गिरने के कारण के लोग घायल भी हो गए हैंl


नेमार 100 वा मैच खेलने के लिए तैयार

सिंगापुर। ब्राजील के स्टार फुटबाल खिलाड़ी नेमार अपना 100वां अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलने के लिए तैयार हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, नेमार इस समय पेरिस सेंट जर्मने क्लब (पीएसजी) से खेल रहे हैं। हाल ही में उनकी कोशिश अपने पुराने क्लब स्पेन के बार्सिलोना में वापस लौटने की थी जिसमें वे नाकाम रहे थे जिसे लेकर पीएसजी के प्रशंसकों ने उनका मजाक उड़ाया था।
ब्राजील को यहां सेनेगल के खिलाफ दोस्ताना मैच खेलना है। मैच से पहले नेमार ने बुधवार को कहा, मैं अपनी राष्ट्रीय टीम और क्लब के साथ खुश हूं। हर कोई जानता है कि आखिरी ट्रांसफर विंडो में क्या हुआ, वो मेरी शुरुआती ख्वाहिश थी, लेकिन आज मैं काफी खुश हूं और अपने क्लब के साथ सहज भी। नेमार इस समय ब्राजील के लिए सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी हैं। उन्होंने 99 मैचों में ब्राजील के लिए 61 गोल किए हैं।
ब्राजील के साथ अपने 100 मैच पूरा करने को लेकर नेमार ने कहा, एक सकारात्मक संतुलन है, लेकिन खिलाड़ी के जीवन में सिर्फ जीत ही नहीं होती हैं। कई तरह की निराशाएं, हार और गलतियां होती हैं। लेकिन अगर आप अंत तक लड़ाई करने को तैयार हैं तो आप अपनी गलती सुधार सकते हैं। मैं खुश हूं कि मैं 100 मैचों के आंकड़े तक पहुंच सका। मैंने अपने सबसे अच्छे सपने में भी इस बारे में नहीं सोचा था।
ब्राजील और सेनेगल दोनों टीमें गुरुवार को सिंगापुर नेशनल स्टेडियम में मैच खेलेंगी। इसके बाद रविवार को ब्राजील और नाइजीरिया की टीमें दोस्ताना मैच खेलेंगी।


हाथियों ने दो को उतारा मौत के घाट,दो गंभीर

बलरामपुर। बलरामपुर जिले में देर रात हाथियों का आतंक देखने को मिला है। हाथियों ने 4 लोगों पर हमला कर दिया जिसमें 2 लोगों की मौत हो जाने जानकारी मिली है। वहीं दो लोगों को गंभीर स्थिति में अम्बिकापुर अस्पताल में भर्ती किया गया है। मिली जानकारी के अनुसार बलरामपुर जिले के राजपुर वन परिक्षेत्र में हाथियों के दल ने सेवारी गांव में पहुंच गये। हाथियों को देखकर गांव के लोग भागने लगे तभी हाथियों के दल ने एक महिला व उसके तीन वर्ष के बेटे को रौंद दिया।


जिसके चलते घटनास्थल पर ही दोनों की मौत हो गई। वहीं अन्य दो लोग भागते समय हाथियों के चपेट में आने से गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। जिन्हें इलाज के लिए अम्बिकापुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना की जानकारी मिलते ही वन विभाग की टीम घटनास्थल पर पहुंचकर हाथियों को खदेडऩे के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।


मैरी ने बॉक्सिंग की दुनिया में इतिहास रचा

नई दिल्ली! एम सी मैरीकॉम ने बॉक्सिंग की दुनिया में नया इतिहास रच दिया है । उन्होंने विश्व महिला बॉक्सिंग चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में जगह बनाते हुए एक मेडल और अपने नाम कर लिया है । यह वर्ल्ड चैंपियनशिप में उनका आठवां मेडल होगा। इसके साथ ही वे दुनिया की पहली ऐसी बॉक्सर बन जाएंगी, जिसने वर्ल्ड चैंपियनशिप में आठ मेडल जीते हैं।
48 किग्रा वर्ग में छह बार विश्व चैंपियन रह चुकीं मैरीकॉम का यह 51 किग्रा वर्ग में विश्व चैंपियनशिप में पहला पदक होगा। वैसे वे इसी वर्ग में 2014 में एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं। उन्होंने 2018 के एशियन गेम्स में इसी वर्ग में कांस्य पदक जीता था। मैरीकॉम इसी भार वर्ग में लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीत चुकी हैं।
एम सी मैरीकॉम ने  विश्व महिला बाक्सिंग चैम्पियनशिप के 51 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली अब एक और मैडल उनके खाते में निश्चित हो गया है । उन्होंने क्वार्टर फाइनल में कोलंबिया की इंगोट वालेंसिया को 5-0 से मात दी और इस तरह सेमीफाइनल में जाकर मैरी ने भारत के लिए एक पदक पक्का कर लिया ।मैरीकॉम ने क्वार्टर फाइनल के मुकाबले में अच्छी शुरुआत की। उन्होंने दूरी बनाए रखते हुए दाएं जैब का इस्तेमाल करते हाथ से हुक भी लगा रही थीं। हल्के से बदले हुए स्टांस के साथ खेल रही मैरीकॉम बीच-बीच में चकमा दे बाएं जैब से सटीक पंच लगाने में भी सफल रहीं। कोलंबिया की इंगोट वालेंसिया इस रणनीति को समझ रही थीं और इसलिए एहतियात के साथ खेलती रही तथा अंत में दोनों खिलाड़ी आक्रामक हो गईं। लेकिन मैरीकॉम अपनी विपक्षी से थोड़ा आगे रहीं। वह इंगोट के पास आते ही हुक का अच्छा इस्तेमाल कर रही थीं और यहीं वह इंगोट पर हावी होती जा रही थी । तीसरे दौर में भी मैरीकॉम ने यही किया और जीत अपने नाम दर्ज कर विश्व महिला बाक्सिंग चैम्पियनशिप में इतिहास रच दिया ।


विवाद में छोटे भाई को जिंदा जलाया

रायगढ़। जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर भुपदेवपुर थाना क्षेत्र में बुधवार देर शाम लगभग साढ़े सात बजे दिल दहलाने वाली घटना घटित हुई। यहां ग्राम देवरी के रहने वाले दो भाइयों के बीच आपसी विवाद इस कदर बढ़ गया कि एक भाई ने दूसरे भाई पर मिट्टी तेल डालकर जला दिया। बुरी तरह से जल चुके प्रमोद उरांव को आनन-फानन में रायगढ़ अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसका उपचार चल रहा है, जिसकी हालत चिंताजनक है। वही आरोपित भाई को पुलिस गिरफ्तार कर लिया है।


सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार देवरी देवरी गांव में रहने वाला रोशन उरांव और प्रमोद उरांव के बीच 3 माह से शराब के नशे में मोबाइल तोडऩे को लेकर पारिवारिक विवाद चल रहा रहा। इस विवाद में बड़े भाई रोशन उरांव पिता मनीराम उरांव उम्र 24 वर्ष ने प्रमोद का मोबाइल तक तोड़ दिया था।


कुत्ता पालने से हार्ट अटैक का असर कम

जिन लोगों को कुत्तों से प्यार है वे इस बात को अच्छी तरह से जानते होंगे कि उनके डॉग का साथ उन्हें कितनी राहत और सुकून देता है। लेकिन शायद इस बात से डॉग लवर्स भी अनजान होंगे कि कुत्ते पालना, उनके दिल की सेहत के लिए कितना फायदेमंद है। एक नई स्टडी के अनुसार, घर पर कुत्ते पालना दिल का दौरा यानी हार्ट अटैक और स्ट्रोक से उबर रहे रोगियों के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। इतना ही नहीं, कुत्ते पालने वाले लोगों में कार्डियोवस्क्युलर डिजीज यानी दिल से जुड़ी बीमारियां होने का खतरा भी काफी कम हो जाता है।
कुत्ते पालने वालों का ब्लड प्रेशर होता है कम
अब तक हो चुकी बहुत सी स्टडीज में यह बात सामने आयी है कि वैसे लोग जो कुत्ते पालते हैं उनका ब्लड प्रेशर, कुत्ते न पालने वालों की तुलना में काफी कम होता है। इसकी वजह ये है कि उनके डॉग्स का इंसान के शरीर पर पॉजिटिव असर पड़ता है और वे हमें शांत कर देते हैं, साथ ही डॉग्स पालने वाले डॉग्स को घुमाने-टहलाने के कारण ज्यादा एक्सर्साइज कर पाते हैं। इतना ही नहीं, पेट्स यानी पालतू जानवरों को छूने पर भी एक खास इफेक्ट होता है जो शरीर पर पॉजिटिव असर डालता है। साथ ही कुत्ते पालने वालों में कलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड का लेवल भी कम पाया गया।
कुत्ते का स्वामित्व स्वास्थ्य को करता है प्रभावित 
इस नई स्टडी की मानें तो हार्ट अटैक या स्ट्रोक के शिकार लोगों की सेहत को सामाजिक अलगाव और शारीरिक गतिविधि में कमी नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है। अमेरिकन हार्ट असोसिएशन के शोधकर्ताओं ने कुत्ते के स्वामित्व से स्वास्थ्य के परिणाम कैसे प्रभावित होते हैं, इन पर स्टडी की। शोधकर्ताओं के अनुसार, कुत्ता पालने से बीमार लोगों के सामाजिक अलगाव में कमी देखी गई। उनकी शारीरिक गतिविधि में भी सुधार हुआ। यहां तक कि उनके ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रण में रखा। 
स्ट्रेस को कम करने में मदद करता है आपका डॉग 
कुत्ते पालने वाले लोगों की सेहत से उन लोगों की तुलना की गई, जिन्हें दिल का दौरा या स्ट्रोक नहीं पड़ा था। पाया गया कि पालतू कुत्ते के साथ रहने वाले हृदय रोगियों के लिए मौत का जोखिम 33त्नकम था। इतना ही नहीं, अगर आप स्ट्रेस में हैं तो कुत्ते के साथ समय बिताना आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। कुत्ते का साथ, आपके मेंटल स्ट्रेस को कम कर दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा कम करने में भी मदद करता है।


पिता का शव देख फफक पड़ी मासूम

बैकुंठपुर! राजस्थान के जैसलमेर में पदस्थ आर्मी जवान कुछ दिनों पूर्व अचानक बीमार पड़ गया था। उसे कमांड हॉस्पिटल पुणे में भर्ती कराया गया था। यहां इलाज के दौरान शनिवार को उसकी मौत (Army soldier death) हो गई। उसका शव वहां से रायपुर भेजा गया।


रायपुर से मंगलवार की शाम करीब 7 बजे शव गृहग्राम बैकुंठपुर के हर्रापारा पहुंचा। जवान का शव देख पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। वहीं मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती 5 वर्षीय बेटी को बुधवार को पिता के अंतिम दर्शन के लिए लाया गया। पिता का शव देख वह फफक पड़ी।


यह देख वहां मौजूद लोगों की आंखें नम हो गईं। फिर तिरंगे में लपेटकर आर्मी जवान के पार्थिव शरीर को जनप्रतिनिधियों ने श्रद्धांजलि दी। इसके बाद शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। जवान ने करीब 16 साल तक आर्मी में अपनी सेवाएं दीं।


तिरंगे में लिपटे आर्मी जवान के पार्थिव शरीर को दी गई अंतिम विदाई, पिता का शव देख फफक पड़ी मासूम बेटी
कोरिया जिले के बैकुंठपुर हर्रापारा निवासी अनिल कुमार साहू पिता रामकृपाल साहू (35) वर्ष 2003 में थलसेना में भर्ती हुए थे। इस दौरान राजस्थान के जैसलमेर सहित अन्य स्थल पर उसने सेवाएं दीं। अचानक बीमार पडऩे के कारण उन्हें कमांड हॉस्पिटल पुणे में भर्ती कराया गया था।


काफी लंबा इलाज चलने के बाद शनिवार को उनकी मौत हो गई थी। सैनिक अस्पताल में सारी प्रक्रियाएं पूरी करने के बाद शव रायपुर भेजा गया था। वहीं मंगलवार शाम करीब 7 बजे उसका शव बैकुंठपुर लाया गया।


घटना की सूचना मिलने के बाद स्थानीय विधायक अंबिका सिंहदेव, नपा अध्यक्ष अशोक जायसवाल, पूव नपाध्यक्ष शैलेष शिवहरे सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि-अधिकारी, जिला सैनिक कल्याण संघ के एसके त्रिपाठी पहुंचे। तिरंगे में शव को लपेटकर सर्वेश्वरी नगर मुक्तिधाम में अंतिम-संस्कार किया गया।


तिरंगे में लिपटे आर्मी जवान के पार्थिव शरीर को दी गई अंतिम विदाई, पिता का शव देख फफक पड़ी मासूम बेटी
अस्पताल में भर्ती बिटिया पिता का शव देख फफक पड़ी
मृतक आर्मी जवान की 5 साल की बिटिया है। तबियत खराब होने पर उसे उपचार कराने अंबिकापुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पिता की मौत की खबर सुनने के बाद बिटिया को अंतिम दर्शन कराने लाया गया था।


इस दौरान अपने पिता का शव देखकर फफक-फफक कर रो पड़ी। परिवार के अन्य सदस्य जैसे-तैसे बिटिया को बड़ी मुश्किल से पिता शव के पास से दूर ले जाया गया। सर्वेश्री नगर मुक्तिधाम में पिता ने अपने जवान बेटे को मुखाग्नि देकर अंतिम संस्कार किया।


सलमान के बंगले से अपराधी गिरफ्तार

मुंबई! बॉलीवुड के दबंग सलमान खान के बंगले की पिछले 20 साल से देखरेख करने वाले वॉटेड क्रिमनल को पुलिस ने आखिरकार गिरफ्तार कर लिया है! गिरफ्तार इस शक्स का नाम शक्ति सिद्धेश्वर राणा बताया जा रहा है!


इस शख्स पर जबरन चोरी और मारपीट के मामला दर्ज था! वह इस मामले में जमानत पर बाहर आने के बाद फरार हो गया था! वहीं अब 62 साल के इस शख्स के सलमान के बंगले की देखरेख करने की जानकारी मुंबई पुलिस को एक मुखबिर ने दी! जिसके बाद पुलिस की क्राइम ब्रांच की यूनिट 4 ने पूरी योजना बनाकर सलमान खान के घर पर धावा बोला! पुलिस को मिली गुप्त सूचना मिलने के बाद पुलिस ने की कार्रवाई उसके बाद बुधवार शाम गिरफ्तारी हुई!


आबकारी विभाग ने बरामद की अवैध शराब

डीएम बी एन सिंह के निर्देश पर आबकारी विभाग एवं पुलिस विभाग की संयुक्त कार्यवाही अवैध शराब बरामद मुकदमा किया गया दर्ज


 गौतमबुध नगर! जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर बीएन सिंह के निर्देशानुसार  कल दिनांक 09.10.2019 को  जनपद की आबकारी विभाग की टीम द्वारा अवैध शराब के तस्करी / बिक्री की रोकथाम हेतु  दादरी थाना क्षेत्र के अजायबपुर गांव मे व घोडी बछेडा गांव मे  अवैध शराब बिक्री के संदिग्ध व्यक्तियो के घर पर छापेमारी/ तलाशी की  कार्रवाई की गयी , अजायबपुर चौकी प्रभारी के साथ संयुक्त रूप से की गयी छापेमारी मे घोडी बछेडा गांव मे धरमवीर पुत्र श्री किशन के घर से 10 पेटी व सलाउद्दीन पुर गांव से धरमेन्द्र पुत्र राजेंद्र के घर से  05  पेटी इम्पैक्ट ब्रांड की हरियाणा मार्का अवैध शराब बरामद की गयी, दोनो अभियुक्त के खिलाफ आबकारी अधिनियम की धारा 63 के अन्तर्गत दादरी थाना मे एफआईआर दर्ज कराया गया। यह जानकारी जिला आबकारी अधिकारी राकेश बहादुर सिंह के द्वारा दी गई है। उन्होंने बताया कि जिलाधिकारी के निर्देश पर अवैध शराब को लेकर जनपद में आगे भी इसी प्रकार निरंतर अभियान संचारित रहेगा और जो व्यक्ति अवैध शराब के धंधे में संलिप्त पाए जाएंगे उनके विरुद्ध इसी प्रकार कार्यवाही की जाएगी। जिला सूचना अधिकारी गौतम बुद्ध नगर।


लेखपाल,तहसीलदार,अमीनो का धरना

 लखनऊ! उत्तर प्रदेश में अमीन, लेखपाल,कानूनगो, नायाब तहसीलदार और तहसीलदार का बड़ा प्रदर्शन ! यूपी में चकबन्दी विभाग के राजस्व विभाग में विलय का आज होगा विरोध! यूपी की 350 तहसीलों में आज  आंदोलन एव विरोध प्रदर्शन का एलान! 50 हज़ार से ज्यादा राजस्व कर्मी आंदोलन एव प्रदर्शन में होंगे शामिल! 750 तहसीलदार भी आंदोलन -धरने में होंगे शामिल! 1234 नायब तहसीलदार भी राजस्व महासंघ के आंदोलन और धरने में रहेंगे मौजूद! यूूूपीी  के 30837 लेखपाल भी कर रहे है विरोध प्रदर्शन! 9634 अमीन और 4281राजस्व निरीक्षक भी विरोध में होंगे आज शामिल! यूपी के सबसे बड़े संगठन राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद का समर्थन! चकबन्दी विभाग के विलय से राजस्व विभाग का सबसे ज्यादा नुकसान! 68 सहायक भू लेक अधिकरी भी आज करेगे विरोध प्रदर्शन! राजस्व की हड़ताल ,प्रदर्शन से सरकार को आज हो सकता है बड़ा नुकसान! प्रदेश में आयी बाढ़ की जिम्मेदारी निभा रहे राजस्व कर्मी! यूूूपी में हो रहे उपचुनाव के बाद भी आज जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन! लखनऊ कलेक्ट्रेट सहित यूपी के सभी जिलाधिकारी कार्यालय में आज धरना-प्रदर्शन!
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


पुष्पेंद्र-बृजपाल के परिजनों को दे मुआवजा

 पुष्पेंद्र यादव व बृजपाल मौर्या के परिजन को दिया जाए पचास लाख का मुआवज़ा


प्रयागराज! समाजवादी पार्टी ने निर्वतमान महानगर अध्यक्ष सै०इफ्तेखार हुसैन के नेत्रित्व में महामहिम राज्यपाल को सम्बोधित सात सूत्रिय ज्ञापन ज़िलाधिकारी प्रयागराज की अनूपस्थिति में ए डी एम सिटी को सौंपा।ज्ञापन के माध्यम से आरोप लगाया गया की उत्तर प्रदेश सरकार असंवेदनशील बन कर लोगों पर हो रहे ज़ुल्म और ज़यादती पर आँख मूंद ली है जिसके कारण उत्तर प्रदेश में अपराधियों का बोल बाला चरम पर पहुँच गया है ।आए दिन हत्या लूट और बलात्कार की घटनाएँ आम हो गई हैं।ज्ञापन के माध्यम से यह मांग भी की गई के झाँसी में स्व पुष्पेन्द्र यादव व बदाँयू के स्व बृजपाल मौर्या के परिजनों को 50-50 लाख रुपये मुआवज़ा दिया जाए।कुम्भ के दौरान सड़क चौड़ीकरण की भेंट चढ़े झुग्गी झोपड़ी वासियों के रोज़गार व निवास की व्यवस्था की जाए।कुम्भ के दौरान बनी सड़कें अभी से उखड़ने लगी हैं और जगहाँ जगहाँ सड़के धंस कर बड़े गडढ़े मे तबदील हो गई हैं उसकी जाँच करवा कर दोषी लोगों को सज़ा के साथ सड़क की मरम्मत तत्काल कराई जाए।बाढ़ प्रभावित इलाक़ो में पानी निकलने के बाद गन्दगी और मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया हैं उन सभी क्षेत्रों में सफाई कराने के साथ संक्रामक बीमारी रोकने के लिए दवा का छिड़काव कराया जाए।बाढ़ में बरबाद हुए किसानों की फसल एवं मकानों के गिरने की छतिपुर्ति के लिए मुआवज़ा दिया जाए।प्रयागराज जनपद के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में हो रही अंधाधुंद कटौती पर अंकुश लगाते हुए चौबीस घन्टे बिजली आपुर्ति सुनिश्चित की जाए।आए दिन हो रही लूट,बलात्कार व हत्या की घटनाओं को रोकने एवं ध्वस्त क़ानून व्यवस्था मे व्यापक सुधार किया जाए।समाजवादी पार्टी ने ज़िलाधिकारी कार्याल के बाहर प्रदर्शन करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार पर जम कर प्रहार करते हुए नारेबाज़ी की और ए डी एम सिटी को महामहिम राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन सौंपते हुए तत्काल कार्यवाही की मांग की।ज्ञापन सौंपने व प्रदर्शन करने वालों में दिलीप यादव,हृदय लाल मौर्य,ननकऊ यादव,रुपनाथ यादव,जिज्ञान्शू यादव,विशाल निषाद,दिनेश प्रजापति,मयंक यादव,मुशीर अहमद,विकास बाला,रोहित किसान,नौशाद सिद्दीक़ी,विनोद गौड़,सत्यम,पप्पू पासी,सै०मो०हामिद,त्रिलोकी यादव,त्रिलोक सोनकर,आशीष पाल,रवि पाल,शुवेन्दु यादव,बब्लू रावत,शिवाकान्त यादव,सै०मो०अस्करी समेत सैकड़ों सपा कार्यकर्ता मौजूद रहे।
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


जायका बिगाड़ रहा है टमाटर

नई दिल्ली! त्यौहारों का सीजन शुरू हो चुका है! नवरात्रि और दशहरे के बाद अब छठ पूजा और दीपावली की तैयारी जोरों से शुरू हो गई है! लेकिन सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं! पिछले कुछ दिनों से जहां प्याज के दाम बढ़े हुए थे तो अब वहीं टमाटर के दाम काफी बढ़ गए हैं! दरअसल, टमाटर के खुदरा दाम 80 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया है! राजधानी दिल्ली की कई लोकल बाजारों में टमाटर 80 के पार बिक रहा है! प्याज की बढ़ी कीमत के बाद टमाटर कीमतें लोगों पर दोहरी मार की तरह साबित हो रही हैं!


दिल्ली की आजादपुर मंडी के थोक विक्रेता ने न्यूज एजेंसी PTI को टमाटर की बढ़ी हुई कीमतों का कारण भी बताया है! उन्होंने बताया कि दक्षिण के कर्नाटक और तेलांगाना जैसे राज्यों में बारिश की वजह से टमाटर की फसल को काफी हुआ है! यही कारण है कि उनकी आपूर्ति अचानक बाधित हुई है और इसीलिए टमाटरों के दामों में तेजी से बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है! हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि कब तक टमाटर के दाम गिरेंगे!


रिपोर्ट के मुताबिक टमाटर के सरकारी दामों की बात करें तो दिल्ली में 1 अक्तूबर को टमाटर की कीमत 45 रुपये किलो थी, जो बढ़कर 54 रुपये प्रति किलो हो गई है! उधर दिल्ली के मदर डेयरी के सफल आउटलेट्स पर टमाटर की कीमत 58 रुपये प्रति किलो है जबकि दूसरी जगहों पर यह 60 से 80 रूपये प्रति किलो बेचा जा रहा है!


मनीष-अश्रिता की शादी,तारीख पक्की

नई दिल्ली। क्रिकेटर मनीष पांडे साउथ एक्ट्रेस आश्रिता शेट्टी पर दिल हार बैठे हैं। दोनों ही जल्द शादी के बंधन में बंधने वाले हैं। मनीष-आश्रिता की शादी की तारीफ भी तय हो चुकी है। ये दोनों 2 दिसंबर को शादी के बंधन में बंधने के लिए तैयार है, बैंगलोर के तेजतर्रार बल्लेबाज मुंबई में शादी के बंधन में बंधने जा रहे हैं। खबरों के अनुसार उनकी शादी दो दिन में हो जाएगी, यह एक निजी समारोह होगा, जिसमे केवल उनके करीबी दोस्तों और रिश्तेदारों को आमंत्रित किया गया है। पांडे पिछले काफी समय से आश्रिता के साथ अपने रिश्ते को मान चुके थे, कई बार दोनों को एक साथ स्पॉट किया गया था। मुंबई की रहने वाली 26 साल की आश्रिता शेट्टी ने अब तक पांच फिल्मों में काम किया है और वह साउथ फिल्म इंडस्ट्री में एक जाना-माना चेहरा हैं। मुंबई में शादी करने के एक और कारण भी है वो यह कि वेस्टइंडीज भारत दौरे पर आएगी और यहां टी20 सीरीज खेलेगी और इसका मैच 6 दिसंबर को वानखेड़े स्टेडियम में खेला जाएगा। ऐसे में खिलाड़ियों को मनीष शादी की पार्टी भी दे सकते हैं।
मनीष को विंडीज के खिलाफ हाल ही में हुई टी20 सीरीज में शामिल किया गया था लेकिन वनडे टीम में वापसी करने का उन्हें माैका नहीं मिला। मनीष ने आखिरी वनडे पिछले साल 25 सितंबर को खेला था। फिलहाल ये 30 वर्षीय बल्लेबाज विजय हजारे ट्राॅफी में शानदार प्रदर्शन कर फिर से टीम में वापसी करने की कोशिश में लगा हुआ है। विजय हजारे ट्रॉफी में कर्नाटक के कप्तान और मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज मनीष पांडे ने शानदार शतक ठोक दिया। पांडे ने छत्तीसगढ़ के खिलाफ 142 रन ठोके और इसी दमदार पारी की बदौलत कर्नाटक को 79 रनों की बड़ी जीत मिली थी।


5 लाख के इनामी सहित 4 नक्सली सरेंडर

सुकमा। घोर नक्सल इलाके में सक्रिए 5 लाख की इनामी नक्सली समेत 4 नक्सलियों ने राज्य शासन की नीतियों से प्रभावित होकर सरेंडर कर दिया है। सरेंडर करने वाले नक्सलियों में 2 महिला नक्सली भी शामिल हैं।


नक्सली माड़वी गंगी पर शासन ने 5 लाख का इनाम घोषित किया था। नक्सली माड़वी गंगी 2006 से नक्सली कमांडर सतिषन्ना के संगठन से जुड़ गईं थी। समर्पण कर चुके नक्सली कई सालों से नक्सल संगठन में काम कर रहे थे।


सरेंडर के बाद नक्सलिों ने कहास कि वह नक्सल उन्मूलन अभियान और शासन की पुनर्वास नीति से प्रभावित हैं। समर्पण करने वाले नक्सलियों ने अपने पूर्व संगठन पर भेदभाव और हिंसा का आरोप लगाया है।


मामल्लापुरम अभेद किले में तब्दील

नई दिल्ली। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के नजदीक तटीय शहर मामल्लापुरम में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच 11 और 12 अक्टूबर को होने जा रहे दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक को लेकर पूरे शहर को अभेद्य किले में तब्दील कर दिया गया है। शहर के पास तटरक्षक के जहाज ने लंगर डाल दिया है। तमिलनाडु के विभिन्न हिस्सों से आए पांच हजार से अधिक पुलिसकर्मियों की यहां तैनाती की गई है। उच्च सुरक्षा के मद्देनजर दो शीर्ष पुलिस अधिकारियों की तैनाती करने के साथ-साथ दर्जनों अस्थायी पुलिस चौकियां बनाई गई है। शहर में 800 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जिसके जरिये सड़कों और अन्य रास्तों की 24 घंटे निगरानी की जा रही है। एसपीजी और बम निरोधक दस्ते के जवान शहर के विभिन्न इलाकों की निगरानी कर रहे हैं। दो दर्जन के करीब खोजी श्वान को तैनात किया गया है।


ट्रेनिंग पर थाईलैंड गई युवती की मौत

भोपाल। मध्यप्रदेश के छतरपुर की रहने वाली प्रज्ञा पालीवाल का थाईलैंड में एक हादसे में मौत हो गई है। थाईलैंड के फुकेट शहर में ये हादसा हुआ है। बताया जा रहा है कि प्रज्ञा पालीवाल बैंगलरू की एक कंपनी में काम करती है। कंपनी ने उसे ट्रेनिंग के लिए थाईलैंड भेजा था, जहां फुकेट शहर में उसकी एक हादसे में मौत हो गई, प्रज्ञा के शव को भारत लाने में मुश्किल हो रही है। क्योंकि परिवार के किसी भी सदस्य के पास पासपोर्ट नहीं है। जानकारी के मुताबिक प्रज्ञा के माता-पिता छतरपुर में रहते हैं। प्रज्ञा बंगलुरु में एक आईटी कंपनी में काम करती थीं। इसी कंपनी ने ट्रेनिंग के लिए प्रज्ञा को थाईलैंड भेजा था, जहां फुकेट में कार एक्सीडेंट में प्रज्ञा की मौत हो गई। प्रज्ञा के शव को भारत लाने में मुश्किल हो रही है। क्योंकि परिवार के किसी भी सदस्य के पास पासपोर्ट नहीं है। इसको लेकर पीड़ित परिवार छतरपुर विधायक आलोक चतुर्वेदी के घर पहुंचा। विधायक ने पीएम और विदेश मंत्री को ट्वीट कर हादसे की जानकारी दी और प्रज्ञा के शव को भारत लाने में मदद मांगी है। इस बीच विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने ट्वीट किया है कि पीड़ित परिवार की हरसंभव मदद की जाएगी।


मरजावां का गाना 'एक तो कम जिंदगानी'

मुंबई। फिल्म 'मरजावां' का गाना गुरुवार को रिलीज हुआ। गाने का टाइटल 'एक तो कम जिंदगानी' है। इस गाने में नोरा फतेही बेहद बोल्ड अंदाज में नजर आ रही है। ये गाना फिल्म 'जाबांज' के सुपरहिट गाने 'प्यार दो प्यार लो' का रीमेक है। इस गाने को फिल्म के लिए रिक्रिएट किया गया है।
गाने की शुरुआत में नोरा फतेही को कहते दिखाया गया है कि वो अपनी बेचलरेट में आईं और इस खास शाम को और भी खास बनाने वाली हैं। अपनी बैचलरेट को इंजॉय करते हुए नोरा ये डांस नंबर परफॉर्म करती दिख रही हैं। गाने को आवाज नेहा कक्कड़ और यश नार्वकर ने दी है। गाने का संगीत तनिष्क बागची ने दिया है।


वार फिल्म ने किए सारे रिकॉर्ड ध्वस्त

मुंबई। ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ स्टारर एक्शन से भरी फिल्म 'वॉर' एक के बाद एक कमाई के सारे रिकॉर्ड ध्वस्त करती जा रही है। फिल्म ने रिलीज के 5 दिनों में ही 200 करोड़ के आंकड़े को पार कर लिया है। फिल्म की कमाई को लेकर खास बात ये है कि ये फिल्म केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के बॉक्स ऑफिस पर भी शानदार कमाई कर रही है। डायरेक्टर सिद्धार्थ आनंद की बनाई 'वॉर' ने अपने ओपनिंग डे पर 50 करोड़ का आंकड़ा पार किया था और सिर्फ तीन दिनों में 100 करोड़ रुपये कमा लिए थे। अब ये फिल्म 200 करोड़ से ज्यादा की कमाई कर चुकी है। इस फिल्म को लेकर अभिनेता ऋतिक रोशन का कहना है कि 'सुपर 30' और 'वॉर' को मिली एक के बाद एक सफलता ने उन्हें अपने बेंचमार्क को और ऊंचा करने के लिए प्रेरित किया है। मुंबई में शुक्रवार को फिल्म 'वॉर' की सफलता का जश्न मनाने के लिए आयोजित कार्यक्रम में फिल्म के निर्देशक सिद्धार्थ आनंद और सह-कलाकार टाइगर श्रॉफ और वाणी कपूर के साथ मीडिया से मुखातिब हुए। इस दौरान ऋतिक ने कहा, मैं सबका शुक्रिया अदा करना चाहूंगा। मुझे लगता है कि मैं भाग्यशाली हूं, जो मैंने ऐसी फिल्में की हैं जिनसे मैं सशक्त बना हूं। मुझे दोनों फिल्मों के लिए काफी प्यार मिला है।


पीडब्ल्यूडी महिला कर्मी सहित 3 शव मिले

रायपुर। राजधानी में आज सुबह पीडब्लूडी की एक महिला कर्मी और उसके दो बच्चों को जला शव मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई। मृतकों के शव में जख्म के गहरे निशान हैं। तीनों की बॉडी बुरी तरह जल चुकी है। घटना की सूचना के बाद उरला पुलिस और एफएसएल की टीम मौके पर पहुंच गई है।


घटना उरला के बाना गांव की है। दुर्ग जिले से लगा यह रायपुर जिले का आखिरी गांव है। पीडब्लूडी की महिला कर्मी दुरोरिन बाई अपने दो बच्चों के साथ रहती थी। बच्चों की उम्र 12 से 15 वर्ष बतायी जा रही है। आज सुबह जब घर पर पड़ोसियों ने तीनों की लाश देखा तो हड़कंप मच गया, साथ इसकी जानकारी उरला पुलिस को दी गयी है। अनुमान लगाया जा रहा हैं कि पहले तीनों की हत्या की गयी, उसके बाद शव को जला दिया गया। दुलोरिन बाई के पति की कुछ वर्ष पहले रोड़ एक्सीडे़ंट में मृत्यु हो गयी थी। दुलोरिन को पीडब्लूडी में अनुकंपा नियुक्ति मिली थी।


घटना की सूचना के बाद सीएसपी अभिषेक माहेश्वरी, उरला टीआई और एफएसएल की टीम मौके पर पहुंच गए हैं। सीएसपी अभिषेक माहेश्वरी ने एनपीजी को बताया कि शव में गहरे जख्म के निशान हैं। इस वजह से हत्या की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता हैं कि ये घटना कैसे हुई।


मानहानि केस:कोर्ट में पेश हुए राहुल

सूरत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उपनाम 'मोदी' को लेकर दिए गए विवादास्‍पद बयान को लेकर किए गए मानहानि के मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी गुरुवार को सूरत कोर्ट में पेश हुए। अब इस मामले की अगली सुनवाई 10 दिसंबर को होगी। बता दें कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी ने अपने बयान में कहा था कि सभी चोरों के उपनाम मोदी क्यों हैं ? जुलाई में हुई सुनवाई के दौरान अदालत ने राहुल गांधी को व्यक्तिगत पेशी से छूट दे दी थी और मामले की अगली सुनवाई के लिए 10 अक्टूबर की तारीख तय की थी। इससे पहले मुख्य न्यायिक मैजिस्ट्रेट बीएच कपाड़िया ने मई में गांधी को समन जारी किया था। अदालत ने भारतीय जनता पार्टी के विधायक पुरनेश मोदी की भारतीय दंड संहिता की धारा 499 और 500 के तहत शिकायत को स्वीकार कर लिया था। यह धारा आपराधिक मानहानि के मामले से संबंधित है।


पराली जलाने पर जुर्माना और एफआईआर

वेस्ट यूपी के किसानों पर गिरी गाज, पराली जलाने पर जुर्माना और एफआईआर के आदेश


नई दिल्ली! धान की खेती करना इस साल किसानों के लिए बड़ी परेशानी बनने वाली है। पंजाब, हरियाणा और वेस्ट यूपी में धान की फसल पककर लगभग तैयार है। कहीं-कहीं तो इसकी कटाई भी शुरु हो गई है। लेकिन उससे पहले ही वेस्ट यूपी के किसानों के लिए बुरी खबर आई है।


कृषि विभाग ने कटाई के बाद खेत में पराली जलाने वाले किसानों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए हैं। ऐसा करने वाले किसानों पर जुर्माना लगाने के साथ ही एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी।धान की कटाई का वक्त नजदीक आते देख ही दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम नरेन्द्र मोदी से पराली को जलाने पर रोक लगाने की मांग की थी। इसके बाद से ही पंजाब, हरियाणा और वेस्ट यूपी के किसानों को अल्टीमेटम जारी कर दिया गया है। वेस्ट यूपी के गाजियाबाद, बुलंदशहर, मेरठ, हापुड़ आदि शहरों में भी कृषि विभाग ने एडवाइजरी जारी करने के साथ ही आदेश भी जारी किया है। सीएम केजरीवाल का आरोप था कि पराली जलाने से दिल्ली में वायु प्रदुषण की स्थिति बिगड़ जाती है।


बुलंदशहर के उपकृषि निदेशक आरपी चौधरी ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि किसान धान की कटाई के बाद खेतों में बचने वाली पराली को न जलाएं। अगर कोई किसान ऐसा करता है तो उस पर जुर्माना लगाया जाएगा। वहीं, आरोपियों के खिलाफ पुलिस थाने में एफआईआर भी दर्ज कराई जा सकती है।


बीएसएनएल को 74 करोड़ देने से इनकार

नई दिल्ली! सरकार घाटे में चल रहीं सरकारी दूरसंचार कंपनियों BSNL और MTNL को बेचने के पक्ष में है। बता दें कि डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्यूनिकेशंस (DoT) ने बीएसएनएल और एमटीएनएल को फिर से पुनर्जीवित करने के लिए 74,000 करोड़ रुपए के निवेश का प्रस्ताव दिया था, जिस पर वित्त मंत्रालय ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया है और दोनों पीएसयू  कंपनियों को बंद करने की सलाह दी है।


सूत्रों के अनुसार, दोनों पीएसयू कंपनियों को बंद करने की स्थिति में 95,000 करोड़ रुपए की लागत आने का अनुमान है। यह लागत बीएसएनएल और एमटीएनएल के 1.65 लाख कर्मचारियों को आकर्षक रिटायरमेंट प्लान देने के और कंपनी का कर्ज लौटाने की स्थिति में आनी है। हालांकि अब हो सकता है कि बीएसएनएल और एमटीएनएल के कर्मचारियों को आकर्षक रिटायरमेंट प्लान देने की जरुरत नहीं पड़ेगी।


बता दें कि दोनों सरकारी कंपनियों में कर्मचारी तीन प्रकार हैं। एक प्रकार के कर्मचारी वो हैं, जो कंपनी द्वारा सीधे तौर पर नियुक्त किए गए हैं। दूसरे प्रकार के कर्मचारी वो हैं, जो दूसरी पीएसयू कंपनियों से या विभागों से बीएसएनएल और एमटीएनएल में शामिल किए गए हैं। वहीं तीसरी तरह के कर्मचारी इंडियन टेलीकम्यूनिकेशंस सर्विस के अधिकारी हैं।


अब यदि कंपनियों को बंद किया जाता है तो ITS अधिकारियों को अन्य सरकारी कंपनियों में तैनाती दी जा सकती है। वहीं जो कर्मचारी बीएसएनएल और एमटीएनएल द्वारा सीधे तौर पर नियुक्त किए गए हैं, वह जूनियर स्तर के हैं और उनकी तनख्वाह भी ज्यादा नहीं है और ये पूरे स्टाफ के सिर्फ 10% हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि सरकार ऐसे कर्मचारियों को अनिवार्य रिटायरमेंट दे सकती है, जिसमें कुछ लागत जरुर आएगी।


बताया जा रहा हैं कि बीएसएनएल और एमटीएनएल को बंद करने की योजना इसलिए बनायी गई है क्योंकि अभी टेलीकॉम इंडस्ट्री में जारी आर्थिक संकट के समय में कोई कंपनी शायद ही सरकारी कंपनियों में निवेश करने पर विचार करे!


टर्मिनेशन चार्ज के लिए रिलायंस जियो बाध्य

नई दिल्ली! टर्मिनेशन शुल्क लेने के लिए रिलायंस जियो (Jio) को बाध्य किया जा रहा है। जियो नेटवर्क से अन्य ऑपरेटरों के नेटवर्क पर किए गए कॉल पर 6 पैसा प्रति मिनट इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज (IUC) का भुगतान करना होगा। जियो ने कहा है कि वह 6 पैसा प्रति मिनट का चार्ज ग्राहकों से वसूलेगा लेकिन इसके बदले में इतना ही फ्री डेटा देगा। आईयूसी एक मोबाइल टेलिकॉम ऑपरेटर द्वारा दूसरे को भुगतान की जाने वाली रकम है।


वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे 
वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे
जिय ग्राहकों से 6 पैसा प्रति मिनट चार्ज करेगा
आज से जियो  ग्राहकों द्वारा किए गए सभी रीचार्ज पर, अन्य मोबाइल ऑपरेटरों को किए गए कॉल पर आईयूसी  टॉप-अप वाउचर के माध्यम से 6 पैसा प्रति मिनट की मौजूदा आईयूसी दर से चार्ज लिया जाएगा। जब तक कि TRAI जीरो टर्मिनेशन चार्ज व्यवस्था लागू नही करती। वर्तमान में यह तारीख 1 जनवरी 2020 है। अब जियो से एयरटेल, वोडाफोन या अन्य नेटवर्क पर कॉल करने पर चार्ज देना होगा।


teligram
यहां नहीं लगेगा चार्ज
– जियो से जियो कॉल पर
– सभी इनकमिंग कॉल्स पर
– जियो से लैंडलाइन कॉल पर
–  व्हाट्सएप या फेसटाइम और इसी तरह के प्लेटफॉर्म का उपयोग करके की गई कॉल।
जब एक टेलीकॉम ऑपरेटर के ग्राहक दूसरे ऑपरेटर के ग्राहकों को आउटगोइंग मोबाइल कॉल करते हैं तब IUC का भुगतान कॉल करने वाले ऑपरेटर को करना पड़ता है। दो अलग-अलग नेटवर्क के बीच ये कॉल मोबाइल ऑफ-नेट कॉल के रूप में जानी जाती हैं। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) द्वारा IUC शुल्क निर्धारित किए जाते हैं और वर्तमान में यह 6 पैसे प्रति मिनट हैं।


आज आत्मविश्वास भरपूर रहेगा: वृषभ

राशिफल


मेष:मेष राशि के जातकों के लिए आज का दिन अनुकूल रहेगा! तरक्की के नये रास्ते खुलेंगे! दामप्त्य जीवन में मधुरता बढ़ेगी! व्यवसायिक यात्रा सफल रहेगी! आज के दिन घर से निकलते समय बड़ों का आशीर्वाद लेकर निकालें, काम में सफलता जरूर मिलेगी!


वृषभ:वृष राशि के जातक आज आत्मविश्वास से भरपूर रहेंगे! ऑफिस में रुका हुआ काम पूरा हो जाएगा! इस राशि के छात्रों के लिए आज का दिन अच्छा रहेगा! कोई बड़ा काम पूरा होगा, जिससे आप खुश रहेंगे! मिट्टी के बर्तन में चिड़ियों के लिए पानी रखें, रूके हुए काम पूरे होंगे!


मिथुन:मिथुन राशि के जातकों के उनकी मेहनत का फल आज मिल सकता है! किसी ऐसे रिश्तेदार से मुलाकात हो सकती है, जिससे भविष्य में आपको फायदा होगा! ग्रहों का परिवर्तन मिथुन राशि के जातकों पर बुरा प्रभाव डाल सकता है! रोजगार में वृद्धि होने की संभावना है! आज के दिन सुबह भोलेनाथ को जल अर्पित करें, आपको अपनी मेहनत का फल जरूर मिलेगा!


कर्क:कर्क राशि के जातकों को अपने जीवनसाथी से कोई सुखद समाचार मिल सकता है! इस राशि की महिलाएं बाहर जाते समय अपना पर्स संभालकर रखें! सेहत नरम गरम रह सकती है! वाहन चलाते समय सावधानी बरते! जरूरतमंद को भोजन कराएं, सुभा दुखों का निवारण होगा!


सिंह:सिंह राशि के जातक आज घर से बड़ों का आशीर्वाद का लेकर निकलें! ऑफिस में नई जिम्मेदारियां मिलने की संभावना है! छात्रों को कड़ी मेहनत करनी होगी! स्वास्थ थोड़ा गड़बड़ रह सकता है! लेन देन के मामलों में सतर्कता बरतें! आज गायत्री मंत्र का जाप करें, दिन बेहतर होगा!


कन्या:कन्या राशि के जातकों के लिए आज का दिन बेहतरीन रहेगा. व्यापारी वर्ग को धन लाभ होगा! किसी बड़ी कंपनी से जॉब के लिए कॉल आ सकती है! आज के दिन मंदिर में भगवान को इत्र अर्पित करें, सभी काम अच्छे से होंगे!


तुला:तुला राशि के जातकों के लिए आज का दिन सामान्य रहेगा! किसी दूसरे के काम में बेवजह अपनी राय देने से बचें! स्वास्थ्य में उतार चढ़ाव बना रहेगा! कानूनी पचड़ों में पड़ सकते हैं! कार्यक्षेत्र में प्रमोशन मिल सकता है! गुस्सा न करें नुकसान होने की संभावना है! बेहतर होगा गुस्से पर नियंत्रण रखें! आज बंदर को चना डालें, स्वास्थ अच्छा रहेगा!


वृश्चिक:वृश्चिक राशि का जातकों का आज का दिन यात्रा में बीतेगा!ऑफिस के काम से बाहर जा सकते हैं! रिश्तों में मिठास बढ़ेगी! अचानक धन लाभ हो सकता है! आज गणेश जी को बेसन के लड्डू का भोग लगाएं, आपका दिन अच्छा रहेगा!


धनु:धनु राशि के जातकों के लिए आज का दिन मिलाजुला रहेगा! किसी काम से दोस्त के घर जा सकते हैं! आपके काम समय से पूरे होंगे! माता पिता का साथ बना रहेगा! आज जरूरतमंद को कुछ गिफ्ट करें, प्रेम संबंध अच्छे रहेंगे!


मकर:मकर राशि के जातकों के लिए आज का दिन ठीकठाक रहेगा. इस राशि के छात्रों के लिए आज का दिन महत्वपूर्ण है! आज किसी बात पर पड़ोसी से झगड़ा हो सकता है! वाणी पर सयंम रखें! फिजूलखर्जी आपके लिए चिंता का कारण बन सकती है! जरूरतमंद को वस्त्र दान करें, आर्थिक पक्ष मजबूत होगा!


कुंभ:कुंभ राशि के जातकों के पर आज किस्मत मेहरबान रहेगी! धन लाभ के साथ खुशियों का आगमन होगा! मन में उत्सुकता बनी रहेगी. तरक्की के कई नए मौके मिलेंगे! साथ काम करने वाले लोगों से सहयोग मिलेगा! आज सुबह उठकर अपने इष्टदेव को प्रणाम करें, बिजनेस में बढ़ोतरी होगी!


मीन:मीन राशि के जातकों के लिए आज का दिन शानदार रहेगा! ग्रहों का चाल मुसीबत बढ़ा सकती है! परिवार में खुशी का माहौल बना रहेगा! इस राशि के छात्रों के लिए आज का दिन अनुकूल रहेगा! आज अपने गुरू का आशीर्वाद लें, काम में सफलता हासिल होगी!


एक वर्षीय साक जातीय पौधा

सरसों क्रूसीफेरी (ब्रैसीकेसी) कुल का द्विबीजपत्री, एकवर्षीय शाक जातीय पौधा है। इसका वैज्ञानिक नाम ब्रेसिका कम्प्रेसटिस है। पौधे की ऊँचाई 1 से 3 फुट होती है। इसके तने में शाखा-प्रशाखा होते हैं। प्रत्येक पर्व सन्धियों पर एक सामान्य पत्ती लगी रहती है। पत्तियाँ सरल, एकान्त आपाती, बीणकार होती हैं जिनके किनारे अनियमित, शीर्ष नुकीले, शिराविन्यास जालिकावत होते हैं। इसमें पीले रंग के सम्पूर्ण फूल लगते हैं जो तने और शाखाओं के ऊपरी भाग में स्थित होते हैं। फूलों में ओवरी सुपीरियर, लम्बी, चपटी और छोटी वर्तिकावाली होती है। फलियाँ पकने पर फट जाती हैं और बीज जमीन पर गिर जाते हैं। प्रत्येक फली में 8-10 बीज होते हैं। उपजाति के आधार पर बीज काले अथवा पीले रंग के होते हैं। इसकी उपज के लिए दोमट मिट्टी उपयुक्त है। सामान्यतः यह दिसम्बर में बोई जाती है और मार्च-अप्रैल में इसकी कटाई होती है। भारत में इसकी खेती पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और गुजरात में अधिक होती है।


महत्त्व:-जर्मनी में सरसों के तेल का उपयोग जैव ईंधन के रूप में भी किया जाता है।सरसों के बीज से तेल निकाला जाता है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के भोज्य पदार्थ बनाने और शरीर में लगाने में किया जाता है। इसका तेल अंचार, साबुन तथा ग्लिसराल बनाने के काम आता है। तेल निकाले जाने के बाद प्राप्त खली मवेशियों को खिलाने के काम आती है। खली का उपयोग उर्वरक के रूप में भी होता है। इसका सूखा डंठल जलावन के काम में आता है। इसके हरे पत्ते से सब्जी भी बनाई जाती है। इसके बीजों का उपयोग मसाले के रूप में भी होता है। यह आयुर्वेद की दृष्टि से भी बहुत महत्त्वपूर्ण है। इसका तेल सभी चर्म रोगों से रक्षा करता है। सरसों रस और विपाक में चरपरा, स्निग्ध, कड़वा, तीखा, गर्म, कफ तथा वातनाशक, रक्तपित्त और अग्निवर्द्धक, खुजली, कोढ़, पेट के कृमि आदि नाशक है और अनेक घरेलू नुस्खों में काम आता है। जर्मनी में सरसों के तेल का उपयोग जैव ईंधन के रूप में भी किया जाता है!


सुनहरी मछली

सुनहरी मछली (कारासिउस औराटस औराटस) साईप्रिनीफॉर्म्स के क्रम में साईप्रिनीडाई के परिवार में एक ताजे पानी की मछली है। यह पालतू बनाए जाने वाली सबसे पहली मछली है और सबसे अधिक रखे जाने वाली एक्वैरियम मछली है। यह कार्प परिवार का एक अपेक्षाकृत छोटा सदस्य है (जिसमें कोई कार्प और कृसिय्न कार्प भी शामिल है), सुनहरी मछली गहरे-ग्रे/जैतूनी/भूरे कार्प का एक पालतू संस्करण है (करासिय्स औराटस) जो पूर्वी एशिया के मूल निवासी है (प्रथम बार चीन में पाले गए) और जिसकी पहचान यूरोप में 17वीं सदी के पूर्वार्ध में हुई. उत्परिवर्तन जिसने सुनहरी मछली को जन्म दिया अन्य साईप्रिनिड प्रजातियों जैसे आम कार्प और टेंच के कारण भी जाना जाता है। पालतू सुनहरीमछली की कई अलग अलग किस्में हैं।


सुनहरीमछली अधिकतम साँचा:In to cm लंबाई तक विकसित होती है और उसका अधिकतम वजन 9.9 pounds (4 kg)[कृपया उद्धरण जोड़ें] होता है, हालांकि, यह दुर्लभ है; अधिकतर व्यक्तिगत सुनहरी मछली इससे आधे आकार से भी छोटी होती हैं। इष्टतम परिस्थितियों में, सुनहरीमछली 40 वर्षों से भी अधिक समय तक जीवित रहती हैं; हालांकि, अधिकतर घरेलू सुनहरीमछलियां आम तौर पर छः से आठ वर्षों तक जीवित रहती हैं।


जंगली रूप:-पालतू सुनहरीमछलियों की किस्में संपादित करें
सदियों से हो रहे चयनित प्रजनन ने कई रंग विविधताओं को उत्पादित किया है, उनमें से कुछ पालतू मछली के मूल "सुनहरे" रंग से भुत दूर होते है। इनमे अलग अलग शारीरिक आकार, पंख और आंखे विन्यास भी पाई जाती है। सुनहरीमछली के कुछ चरम संस्करण एक्वैरियम" में ही रहते हैं- वे जंगली किस्मों से कही कम मज़बूत होते हैं। हालांकि, कुछ किस्में अधिक मजबूत होती हैं जैसे शुबनकिन . मुख्य किस्में हैं:


आम सुनहरीमछली काले मूर बब्ल आई:-आम सुनहरीमछली अपने पूर्वज प्रशिया कार्प से केवल रंग में अलग होती हैं। आम सुनहरीमछली विभिन्न रंगों में पाए जाते हैं जिसमे लाल, नारंगी/स्वर्ण, सफेद, काले और पीले या 'नींबू' रंग शामिल है! काले मूर सुनहरीमछली की एक दूरबीन-आखों वाली प्रजाति है जिसकी उभड़नेवाली आंखे उसकी विशेषता है। उसे पोपाये टेलिस्कोप, जापान में कुरो डेमिकिन और चीन में ड्रैगन-आई के नाम से जाना जाता है। छोटा, फैंसी बब्ल आई के पास ऊपर की ओर इशारा करती हुई आंखें हैं और उसके साथ दो बड़े द्रव्य-भरी थैलियां भी है।
दिव्य आंखें (सेलेस्चिय्ल आई) धूमकेतु (कोमेट)(सुनहरीमछली) फैनटेल (पंखे नुमा पूंछ वाली)(सुनहरीमछली)
सजावटी सेलेस्चिय्ल आई सुनहरीमछली या चोटेन गान एक दोहरी दुम वाला और एक नस्ल-परिभाषित करने वाली ऊपर की ओर पलटी, दूरबीन आखों वाली मछली है जिसकी पुतलियां आकाश की ओर देखती हुई हैं। 
धूमकेतु या धूमकेतु-पूंछ वाली सुनहरी मछली संयुक्त राज्य अमेरिका में पाए जाने वाली सबसे आम प्रजाति है। थोड़ी पतली या छोटी होने के आलावा, यह आम सुनहरीमछली के समान ही है और यह मुख्य रूप से अपनी लंबी और गहरी कांटे समान पूंछ के कारण अलग से पहचानी जाती है। फैनटेल सुनहरीमछली रयुकिन का पश्चिमी रूप है और इसके पास एक अंडे के आकार का शरीर, एक उच्च पृष्ठीय पंख, एक लंबी चौगुनी, पूंछ है और इसके कंधे पर कोई उभार नहीं है।
सिंह मस्तिष्क (लायनहेड)(सुनहरीमछली) ओरानडा पर्लस्केल
सजावटी लायनहेड के पास एक हुड है। यह मछली रैनचु का पूर्वगामी है! सजावटी ओरानडा की विशेषता प्रमुख रूप से एक रास्पबेरी-जैसी हुड है (जिसे वेन या सिरवृद्धि के नाम से भी जाना जाता है) और जो आंखें और मुह को छोड़ कर पुरे सिर को ढके हुए रहता है। सजावटी पर्लस्केल या जापानी भाषा में चीनशुरिन का शरीर-गोलाकार और जिसकी पूंछ फैनटेल के समान है।
पोमपोम (सुनहरीमछली) रयुकिन शुबनकिन
सजावटी पोमपोम्स या पोम्पोन या हाना फुसा के नाक के बीच में और सिर के दोनों तरफ खुले मांसल बाहरी ओर उगे हुए रेशों के गुच्छे होते हैं।  सजावटी रयुकिन का शरीर छोटा और गहरा है और उसके कंधे का उभार उसकी विशेषता है।  सजावटी और साहसी जापानी (जिसका शाब्दिक अनुवाद "लाल ब्रोकेड") की nacreous स्केलों के साथ एक पूंछ है और शरीर पर कैलिको नामक एक आकृति है। 
दूरबीन आंख (टेलिस्कोप आई) रैनचु पांडा मूर
सजावटी दूरबीन आंख या डेमेकिन की विशेषता है उसकी उभड़नेवाली आखें. इसे ग्लोब आई या ड्रेगन आई सुनहरीमछली के नाम से जानी जाती है। सजावटी जापानी रैनचु हुड वाली है। जापानी इसे "सुनहरी मछलियों के रजा" के नाम से संबोधित करते हैं। सजावटी पांडा मूर का काली और सफेद आकृति और उभड़नेवाली आंखे उसकी विशेषता है।
वेलटेल तितली पूंछ (बटरफ्लाई टेल)(सुनहरीमछली)
सजावटी वेलटेल अपने अतिरिक्त लंबे, लहराते दोहरे पूंछ के कारण जाना जाता है। आधुनिक वेलटेल मानकों को पूंछ के निकले हुए किनारों के अभिस्थापन की थोड़ी या बिलकुल भी आवश्यकता नहीं होती, जैसा जी एक दुल्हन के विवाह की चुनरी में होती है। तितली पूंछ मूर या तितली टेलीस्कोप दूरबीन आंख वाले वंश का हिस्सा है, उसके जुडवा पूंछ ऊपर से देखे जाने पर सबसे बेहतरीन लगते हैं। पूंछ का फैला हुआ पंख पानी के नीचे की तितलियों की नकल करती हुई प्रतीत होती है!
चीनी सुनहरीमछली वर्गीकरण संपादित करें
चीनी परंपरा सुनहरीमछलियों को मुख्य रूप से 4 प्रकार में वर्गीकृत करती है। यह वर्गीकरण सामान्यतः पश्चिम में इस्तेमाल नहीं किया जाता!


सी (जिसे "ग्रास" भी कहा जा सकता है)-बिना सजावटी संरचनात्मक विशेषताओं के सुनहरीमछली. इनमें शामिल है आम सुनहरीमछली, कोमेट सुनहरीमछली और शुबनकिन.
वेन-सुनहरीमछली की पूंछ सजावटी है, जैसे, फैनटेल और वेलटेल ("वेन" एक प्रकार के सिरवृद्धि को कहते हैं जो ओरानडा और लायनहेड जैसे उपभेदों की विशेषता होती है)
ड्रैगन आई- सुनहरीमछली की आखें बढ़ी हुई होती है, उदाहरण के तौर पर ब्लैक मुर, बब्ल आई और टेलीस्कोप आई
एग-सुनहरीमछली पृष्ठीय पंख नही होता और आमतौर पर उनकी शारीरिक संरचना 'अंडाकार' होती है, जैसे लायनहेड (ध्यान दें कि एक बिना पृष्ठीय पंख वाला बब्ल आई इसी समूह के अंतर्गत आता है)


चीड़ की गोलाकार आकृति

चीड के कम उम्र के छोटे पौधों में निचली शाखाओं के अधिक दूर तक फैलने तथा ऊपरी शाखाओं के कम दूर तक फैलने के करण इनका सामान्य आकार पिरामिड जैसा हो जाता है। पुराने होने के कारण इनका सामान्य आकार पिरामिड जैसा हो जाता है। पुराने होने पर वृक्षों का आकार धीरे धीरे गोलाकार हो जाता है। जगलों में उगनेवाले वृक्षों की निचली शाखाएँ शीघ्र गिर जाती हैं और इनका तना काफी सीधा, ऊँचा, स्तंभ जैसा हो जाता है। इनकी कुछ जातियों में एक से अध्कि मुख्य तने पाए जाते हैं। छाल साधारणतय मोटी और खुरदरी होती है, परंतु कुछ जातियों में पतली भी होती है।


इनमें दो प्रकार की टहनियाँ पाई जाती हैं, एक लंबी, जिनपर शल्कपत्र लगे होते हें, तथा दूसरी छोटी टहनियाँ, जिनपर सुई के आकार की लंबी, नुकीली पत्तियाँ गुच्छों में लगी होती हैं। नए पौधों में पत्तियाँ एक या दो सप्ताह में ही पीली होकर गिर जाती हैं। वृक्षों के बड़े हो जाने पर पत्तियाँ वर्षों नहीं गिरतीं। सदा हरी रहनेवाली पत्तियों की अनुप्रस्थ काट (transverse section) तिकोनी, अर्धवृत्ताकार तथा कभी कभी वृत्ताकार भी होती है। पत्तियाँ दो, तीन, पाँच या आठ के गुच्छों में या अकेली ही टहनियों से निकलती हैं। इनकी लंबाई दो से लेकर 14 इंच तक होती है और इनके दोनों तरु रंध्र (stomata) कई पंक्तियों में पाए जाते हैं। पत्ती के अंदर एक या दो वाहिनी बंडल (vascular bundle) और दो या अधिक रेजिन नलिकाएँ होती हैं। वसंत ऋतु में एक ही पेड़ पर नर और मादा कोन या शंकु निकलते हैं। नर शंकु कत्थई अथवा पीलें रंग का साधारणतय एक इंच से कुछ छोटा होता है। प्रत्येक नर शंकु में बहुत से द्विकोषीय लघु बीजाणुधानियाँ (Microsporangia) होती हैं। ये लघुबीजाणुधानियाँ छोटे छोटे सहस्त्रों परागकणों से भरी होती हैं। परागकणों के दोनों सिरों का भाग फूला होने से ये हवा में आसानी से उड़कर दूर दूर तक पहुँच जाते हैं। मादा शंकु चार इंच से लेकर 20 इंच तक लंबी होती है। इसमें बहुत से बीजांडी शल्क (ovuliferous scales) चारों तरफ से निकले होते हैं। प्रत्येक शल्क पर दो बीजांड (ovules) लगे होते हैं। अधिकतर जातियों में बीज पक जाने पर शंकु की शल्कें खुलकर अलग हो जाती हैं और बीज हव में उड़कर फैल जाते हैं। कुछ जातियों में शकुं नहीं भी खुलते और भूमि पर गिर जाते हैं। बीज का ऊपरी भाग कई जातियों में कागज की तरह पतला और चौड़ा हो जाता है, जो बीज को हवा द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचने में सहायता करता है। बीज के चारों ओर मजबूत छिलका होता है। इसके अंदर तीन से लेकर 18 तक बीजपत्र पाए जाते हैं।


चीड़ के पौधे को उगाने के लिये काफी अच्छी भूमि तैयार करनी पड़ती है। छोटी छोटी क्यारियों में मार्च-अप्रैल के महीनों में बीज मिट्टी में एक या दो इंच नीचे बो दिया जाता है। चूहों, चिड़ियों और अन्य जंतुओं से इनकी रक्षा की विशेष आवश्यकता पड़ती है। अंकुर निकल आने पर इन्हें कड़ी धूप से बचाना चाहिए। एक या दो वर्ष पश्चात् इन्हें खोदकर उचित स्थान पर लगा देते हैं। खोदते समय सावधानी रखनी चाहिए, जिसमें जड़ों को किसी प्रकार की हानि न पहुँचे, अन्यथा चीड़, जो स्वभावत: जड़ की हानि नहीं सहन कर सकता, मर जायगा।


मांसाहारी स्तनियो का गण

मांसाहारी गण (Carnivora) मांसाहारी स्तनियों का गण है। इसके अंतर्गत सिंह, बाघ, चीता, पालतू कुत्ते एवं बिल्लियाँ, सील, लोमड़ी लकड़बग्घा, रीछ आदि जीव आते हैं। इस गण के लगभग 260 वंश वर्तमान है और वर्तमान वंश के बराबर वंश विलुप्त हो गए हैं। तृतीयक (Tertiary) युग के आरंभ में इस गण के जीवों की उत्पत्ति हुई, तब से अब तक ये अपना अस्तित्व बनाए रखने में पर्याप्त सफल रहे हैं।


इस गण के प्राणी साहसी, बुद्धिमान्‌ एवं सक्रिय होते हैं। इनके देखने और सूँघने की शक्ति तीव्र होती है। इनके चार रदनक (canine) दाँत होते हैं, जो मांस फाड़ने के अनुकुल होते हैं। इस गण की अनेक जातियों की पादांगुलियाँ दृढ़ एवं तेज नखर (claw) से युक्त होती है। ये नखर शिकार को पकड़ने में सहायक होते हैं। मांसाहारी गण के प्राणी छोटे विस्त्रा (weasel) से लेकर बड़े रीछ के आकार तक के होते हैं और इनका भार लगभग २० मन तक हो सकता है। आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड को छोड़कर संसार के प्रत्येक भाग में मांसाहारी गण के जीव पाये जाते हैं। ध्रुवीय लोमड़ी और रीछ ही केवल ऐसे स्थल स्तनी हैं, जो सुदूर उत्तर में पाए जाते हैं। जलसिंह (sea lion) उत्तर ध्रुवीय एवं दक्षिण ध्रुवीय समुद्र में पाए जाते हैं। गंध मार्जार (civet) उत्तरी एवं दक्षिणी अमरीका को छोड़कर सभी देशों में पाया जाता है। अफ्रीका में असली रीछ नहीं पाये जाते। पंडा को छोडकर सभी रैकून (racoon) अमरीका में ही पाये जाते हैं। यद्यपि कुछ मांसाहारी प्राणी मनुष्य और पालतु पशुओं को हानि पहुँचाते हैं, तथापि इनमें से अधिकांश समूरधारी (furry) और कृतक भक्षक होने के कारण महत्वपूर्ण है। कृंतक (rodente) कृषि को हानि पहुँचाते हैं, पर मांसाहारी गण के अधिकांश प्राणी कृंतकों का भक्षण कर इनकी संख्यावृद्धि को रोकते हैं। इस गण के सभी प्राणी मांसाहारी ही हों, यह आवश्यक नहीं है। इस गण के कुछ प्राणी, जैसे अधिकतर रीछ, शाकाहारी होते हैं।


विशिष्ट लक्षण (Distinctive characters) 
वर्गीकरण (Classification) 
मांसाहारी गण के जीवाश्म 
आधुनिक मांसाहारी गण के सामान्य प्राणियों के जीवाश्मों के साथ साथ अनेक विलुप्त प्राणियों के जीवाश्म भी अत्यंत नूतन (pleistocene) युग की चट्टानों में पाए गए हैं। सबसे प्राचीन मांसाहारी गण वह छोटा क्रिओडॉराटा था जिसके जीवाश्म उत्तरी अमरीका के पुरानूतन (palaeocene) युग के आरंभ की चट्टानों में पाए गए हैं। उत्तरी अमरीका में मध्यपुरानूतन युग की चट्टानों में मीआसिड (Miacid) गण के जीवों के जीवाश्म मिलते हैं, जिनसे पता चलता है कि उस काल में इस गण के जीव उत्पन्न हो गए थे। अ्फ्रीका की मध्यनूतन युग के आरंभ की चट्टानों और भारत की अतिनूतन (Pliocene) युग की चट्टानों से प्राप्त जीवाश्मों से ज्ञात होता है कि उस काल मेंश् अंतिम क्रिओडॉराटा जीवित थे क्रिओडॉराटा और फिसीपीडिया दानों गण के संबंध संदेहयुक्त हैं, यद्यपि दोनो के अवशेष एक ही काल की चट्टानों में मिलते हैं, जलव्य्घ्राा के जीवाश्म मध्यनूतन युग की चट्टानों में मिलते हैं जिनसे पता लगता है कि उनमें पिन्नीपीडिया गण के सभी लक्षण उपस्थित थे। जलव्य्घ्राा के पूर्वज के संबंध में कोई विशेष संकेत नहीं मिलते।


संकल्पमयी संसार की विशेषता

गतांक से...
 मेरे प्यारे, राम ने 12 वर्ष तक ऐसे अन्न को ग्रहण किया, जिससे उनका मन पवित्र हो गया और पुराणों में एक महान धारा का जन्म होने लगा| देखो हूत और प्रहूत में वह परिणत होने वाला जगत बन गया! राम जब तपस्या करते रहते नाना मुनि आते चर्चाएं होती और वेद चर्चाएं मानो कोई आध्यात्मिक वाद की चर्चा कर रहा है, कोई आत्मा की चर्चा कर रहा है, कोई राष्ट्रवाद की विवेचना कर रहा है, कोई उसी में रत हो करके अपने पिता का ध्यान अवस्थित हो रहे हैं| मेरे प्यारे देखो अपने में अपनेपन को ही विचारना तपस्या कहलाता है! मुझे स्मरण आता रहता है मुझे भी आखियकाय स्मरण है! जब मानव तपस्वी बंन करके तत्वों में लीन होना चाहता है! 12 वर्ष का राम का अनुष्ठान पूर्णत़व को प्राप्त हुआ और वेदों का गान करते रहते थे! वेदों की महानता में रमण करते रहते थे! मुझे स्मरण आता रहता है, बेटा भगवान राम का वह जीवन जिसमें वह अपने में ही अपने पन दृष्टिपात करते रहते थे! यह सृष्टि का जो चक्र है यह बड़ा विचित्र माना गया है! परंतु इसके ऊपर विश्लेषण प्रत्येक मानव करता रहता है! मैं तुम्हें विशेष विवेचना में नहीं ले जा रहा हूं! विचार केवल यह है कि परमात्मा की बड़ी विचित्र है परंतु भगवान राम ने 12 वर्ष का कठोर तप किया और उन्होंने सिलसत अऩ को ग्रहण करते हुए अपने मन को पवित्र बनाने के लिए तपस्या में सुयोग्य बने! मेरे प्यारे, जब वह 12 वर्ष का तक पूर्ण हो गया तो भयंकर वनों में ही एक विचार वालों का मानव समाज उपस्थित हुआ! उन्होंने कहा कि राम अब तुम राष्ट्र को भोगो उन्होंने कहा राष्ट्र भोगने के लिए तत्पर हूं! परंतु मेरे विचार में यह नहीं आ रहा है कि यह राष्ट्र क्या है जिसे मैं भोगू! उन्होंने कहा राष्ट्र है अपने पर अनुशासन करना अपने प्राणों को संयम में लाने का नाम राष्ट्र है! परंतु देखो यह ऐसा राष्ट्र है जिसके ऊपर मानव परंपरागतो से ही टिप्पणियां करता रहा है! विचारधारा में तत्पर रहता है! राम ने कहा कि महाराज मैं राष्ट्रवाद को जानना चाहता हूं ,यह राष्ट्रवाद क्या है? तो मुनिवरो, देखो इन पुरोहितों ने वेदों के कर्मकांड महापुरुषों ने कहा, यह जो संसार है यह मानो बड़ी विचित्रा में तपो का क्षेत्र माना गया है! यहां प्रत्येक मानव तपस्या में परिणत होना चाहता है और वह अपने को तपस्चर में परिणित करता हुआ सागर से पार होना चाहता है! उन्होंने राष्ट्रीयता की घोषणा की और वहां यह विचार बन गया था कि राम अब इस समय पूर्णरूपेण मानो देखो यज्ञ प्रवाह जैसे यज्ञशाला में यज्ञमान विद्यमान हो करके वही धीपति कहलाता है! इसी प्रकार राष्ट्र को उन्नत बनाने के लिए मानो उसी प्रकार अनृत होना बहुत अनिवार्य है! मेरे प्यारे देखो राष्ट्र का 'अनुभूतम ब्रह्मा' भगवान राम ने स्वीकार कर लिया! परंतु ऋषि-मुनि उन्हें उपदेश देने लगे! राम ने यह कहा कि है ब्रह्म बताओ मुझे निर्णय कराओ यह राष्ट्रवाद क्या है! जिसके लिए इतना बल दिया जा रहा है! महात्मा वशिष्ठ मुनि बोले की प्रजा को अनुशासन में लाने के लिए! राम ने कहा कि जब सबको ज्ञान हो जाएगा ब्रह्मज्ञानी बन जाएंगे! कर्मठ कर्मकांड में परिणत समाज हो जाएगा, तो अनुशासन की आवश्यकता नहीं रहती! राम ने कहा अनुशासन वहां होता है जहां कुरीतियां आ जाती है विकृतियां आ जाती है! वहां अनुशासन की आवश्यकता है और जहां मानव अपने में अपनेपन को चिंतन में ला रहा है! उसके राष्ट्रवाद की आवश्यकता होना ना होना उसका प्रश्न ही नहीं उठता है! जब राजा अपने कर्तव्य का पालन करता है! प्रजा अपने कर्तव्य का पालन करती है और विज्ञान का सदुपयोग होता रहता है तो समाज में एक महानता का जन्म हो जाता है! राम ने कहा कि जब प्रत्येक मानव एक दूसरे से एक दूसरे में रत हो जाएगा! मानो उसी का नाम राष्ट्रवाद कहा जाता है! क्योंकि उस राष्ट्रवाद में अपनी अंतरात्मा की पवित्रता होती है! और जहां मानव की अपनी इंद्रियों में पवित्रता नहीं आएगी! उस समय द्वितीय राष्ट्र के निर्वाचन से कोई लाभ नहीं होना है! संसार में जब तक प्रत्येक मानव का इंद्रित़व ऊंचा न बन जाए और विचारधारा पवित्रत़व को प्राप्त न हो जाए! राम ने कहा कि मैं इस राष्ट्र को अवश्य भोगूगा! परंतु मेरा अंतरात्मा यह कहता है कि प्रत्येक मानव को अपने कर्तव्य में तल्लीन हो जाना चाहिए! मानो यदि हम राजा बनकर के राष्ट्र को उन्नत नहीं बना सकते और जीवन की चर्चा में पवित्रता नहीं ला सकते और उस पवित्रता को हम धारण नहीं करेंगे तो हमारा राष्ट्रीयत़व शांत हो जाएगा!


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


हिंदी दैनिक


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


October 11, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-68 (साल-01)
2. शुक्रवार,11 अक्टूबर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन,शुक्‍लपक्ष,तिथि- त्रयोदशी,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:16,सूर्यास्त 06:05
5. न्‍यूनतम तापमान -21 डी.सै.,अधिकतम-32+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी,नमी बनी रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


जेडीयू को भी मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी मिलनी चाहिए

अविनाश श्रीवास्तव    पटना। केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार और उसमें जनता दल यूनाइटेड के शामिल होने की अटकलों के बीच जेडीयू अध्यक्ष आरसीपी सिं...