मंगलवार, 21 मई 2019

प्रणय ने माउंट एवरेस्ट पर फहराया तिरंगा

भारतवासी प्रणय ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर फहराया तिरंगा


भारतवासी प्रणय बंदबुच ने 13 अन्य लोगों के साथ सोमवार को दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा फहरा दिया। पर्यटन मंत्रालय की पर्वत शाखा के अनुसार, चीन, ग्रीस व भारत के सात पर्वतारोही और सात नेपाली शेरपा 8,848 मीटर ऊंची चोटी पर सोमवार की सुबह पहुंच गए। नेपाल ने 14 मई को विश्व की सबसे ऊंची पर्वत चोटी पर चढ़ाई के लिए रास्ता खोला था। तब आठ नेपाली शेरपा माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने में कामयाब रहे थे।


यह पहली टीम थी जो इस रास्ते माउंट एवरेस्ट पर पहुंची थी। माउंट एवरेस्ट पर पहुंचने वालों में चार चीन, दो ग्रीस व एक भारत से हैं। भारतीय पर्वतारोही की पहचान प्रणय बंदबुचा के रूप में हुई।


इस मौसम में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई के लिए 41 अलग-अलग टीमों के 378 पर्वतारोहियों को पर्यटन मंत्रालय ने अनुमति दी है। इनमें से 200 पर्वतारोहियों ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी का रुख भी कर लिया है।


 


ब्रिटेन में लैंडिंग कार्ड व्यवस्था की खत्म

ब्रिटिश सरकार ने भारत से आने वाले यात्रियों के लिए लैंडिंग कार्ड भरने की अनिवार्यता खत्म कर दी


ब्रिटिश सरकार ने भारत जैसे देशों से ब्रिटेन आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए लैंडिंग कार्ड भरने की अनिवार्यता खत्म कर दी है। इसका मकसद ब्रिटेन में प्रवेश को सुगम बनाना है।


यूरोपीय आर्थिक क्षेत्र (ईईए) के बाहर के देशों से आने वाले विमान यात्रियों को अब ब्रिटेन के हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद फार्म भरकर पासपोर्ट के साथ उसे आव्रजन अधिकारियों के हवाले करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यह सुविधा सोमवार से ही लागू हो गई है। ब्रिटेन के गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि सरकार सभी गैर ईईए यात्रियों को ब्रिटेन पहुंचने पर लैंडिंग कार्ड भरने की जरूरत को खत्म कर रही है। इससे देश में आना आसान होगा।


ब्रिटेन के एयरपोर्ट ऑपरेटर एसोसिएशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी करेन डी. ने कहा कि हवाई अड्डे व्यस्त मौसम की तैयारी कर रहे हैं। हमें पता है कि पासपोर्ट कंट्रोल के लिए कोई भी कतार में इंतजार नहीं करना चाहता।


ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, जापान, न्यूजीलैंड, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया और अमेरिका के यात्री इस सप्ताह से समूचे ब्रिटेन के हवाई अड्डों पर स्वचालित द्वार का इस्तेमाल कर पाएंगे।


 


बंगाल में हिंसा जारी, ट्रेन पर फेंके बम

पश्चिम बंगाल:भाटपारा में हिंसा जारी, ट्रेन पर फेंके गए देसी बम


पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना के भाटपारा में लगातार हिंसा जारी है। ट्रेन पर देसी बम फेंके गए जिसके बाद रेल यात्रियों ने भागकर किसी तरह अपनी बचाई। भाटपाड़ा में कल से ही धारा 144 लागू है।


वहीं एएनआई न्यूज एजेंसी के मुताबिक बंगाल के कूच बिहार स्थित सिताई में पिछली रात हिंसा में भारतीय जनता पार्टी के पांच कार्यकर्ता घायल हो गए। बीजेपी ने इस हिंसा के लिए टीएमएसी कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाय है।


चुनाव बाद किसी भी तरह की हिंसक घटना से बचने के लिए पश्चिम बंगाल के भाटापारा में सोमवार को धारा-144 लगा दी गई है। लोकसभा चुनावों के साथ ही भाटापारा में विधानसभा के लिए उपचुनाव हुए थे। इस दौरान तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार मदन मित्रा का एक वीडियो वायरल हो रहा था जिसमें वे केंद्रीय बल के एक जवान से बहस करते हुए दिखाई दे रहे थे।


 


विपक्ष के दावों को आयोग ने किया खारिज

विपक्ष के दावों को चुनाव आयोग ने किया खारिज, कहा- बिल्कुल सुरक्षित है ईवीएम


लोकसभा चुनाव परिणाम से पहले ईवीएम को लेकर नए सिरे से विवाद शुरू हो गया है। विपक्षी दलों के नेता ईवीएम स्ट्रॉन्ग रूम की सुरक्षा पर सवाल उठाते हुए छेड़छाड़ की कोशिश का दावा कर रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष प्रियंका गांधी, राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, मनीष सिसोदिया समेत कई नेताओं ने स्ट्रॉन्ग रूम (जहां वोटिंग के बाद ईवीएम रखे गए हैं) पर निगरानी रखने के लिए कार्यकर्ताओं से अपील की है।


वहीं चुनाव आयोग ने विपक्षी दलों के दावों को खारिज किया है। चुनाव आयोग ने कहा, ''गाजीपुर, चंदौली, डुमरियागंज और झांसी में ईवीएम को लेकर जो आरोप लगाए गए वो सही नहीं हैं। जिन ईवीएम का मतदान में इस्तेमाल हुआ है वो पूरी तरह सुरक्षित हैं।


गाजीपुर प्रशासन ने भी महागठबंधन के उम्मीदवार अफजाल अंसारी के दावों को खारिज किया है। गाजीपुर प्रशासन ने ट्वीट कर कहा, ''ईवीएम को लेकर आशंकाएं निराधार हैं। ईवीएम 24×7 सीआईएसएफ की सुरक्षा में है। उम्मीदवारों को स्ट्रॉन्ग रूम की निगरानी के लिए अपने एजेंटों को रखने की अनुमति दी गई है।'' इस ट्वीट को चुनाव आयोग ने रिट्वीट किया है।


बीजेपी ने भी इसे विपक्ष की हताशा करार दिया। बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि ये हार तय देखकर ऐसा कर रहे हैं। मोदी को गाली देते देते अब चुनाव आयोग और ईवीएम को गाली देने लगे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने तो अपना फ़ैसला दे दिया है।


 


एनएनपी विधायक सहित 7 की मौत

अरुणाचल प्रदेश: एनएनपी विधायक तिरोंग अबो सहित 7 की संदिग्ध आतंकी हमले में मौत


अरुणाचल प्रदेश में एनएनपी के विधायक तिरोंग अबो और 6 अन्य लोगों की एक हमले में मौत हो गई है बताया जा रहा है कि इस हमले में अबो के परिवार वालों के साथ सुरक्षाकर्मी भी इस हमले में मारे गए हैं।


मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, संदिग्ध एनएससीएन (नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड) के आतंकवादी हमले के पीछे हो सकते हैं, ये घटना अरुणाचल प्रदेश में तिरप जिले के बोगापानी गाँव में हुई है।


अबो अरुणाचल प्रदेश की खोंसा-पश्चिम सीट से विधायक हैं। वहीं मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड संगमा ने इस क्रूर हमले की निंदा की और गृह मंत्री राजनाथ सिंह से दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह किया। 'एनपीपी श्री तिरंग अबोह और उनके परिवार और उनके सुरक्षा कर्मियों पर हुए क्रूर हमले की कड़ी निंदा करता है।


 


कर्ज में डूबे किसान ने की आत्महत्या


कर्ज में डूबे किसान ने आत्महत्या की।
27 हजार पंचायत सहायकों की नौकरी दांव पर।
आखिर राजस्थान में कांग्रेस सरकार राहुल गांधी के शब्दों का मान कैसे रखेगी?

लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान की सभाओं में बार बार कहा कि अब किसी भी किसान को बैंक कर्ज की वजह से आत्महत्या नहीं करनी पड़ेगी और न ही लोन नहीं चुकाने पर किसी किसान को जेल जाना पड़ेगा। इसी प्रकार राहुल ने कहा था कि नरेन्द्र मोदी ने दो लाख रिक्त पदों पर भर्तियां नहीं की। कांग्रेस ने राहुल गांधी के कथनों से जुड़े विज्ञान भी जारी किए। चूंकि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है ऐसे उम्मीद रही कि राजस्थान में तो राहुल गांधी के शब्दों और वायदों का मान रखा ही जाएगा। लेकिन राजस्थान पत्रिका ने 21 मई के अजमेर संस्करण में अंतिम पृष्ठ भूमि पर बैंक कर्ज में डूबे किसान ने खुदकुशी शीर्षक से एक खबर प्रकाशित की है। इस खबर में बताया गया कि अजमेर जिले के मसूदा विधानसभा क्षेत्र के भिनाय थानांर्गत तेलाड़ा गांव के चालीस वर्षीय किसान लादू सिंह ने विषाक्त पदार्थ खाकर खुदकुशी कर ली। भारतीय स्टेट बैंक की भिनाय शाखा की ओर से लादू सिंह को 6 लाख रुपए के कर्ज की वूसली का नोटिस 19 मई को प्रात: 11 बजे मिला और लादू सिंह ने दोपहर एक बजे विषाक्त पदार्थ खा लिया। बैंक अधिकारी स्वीकार करते हैं कि लादू सिंह के घर पर नोटिस चस्पा किया गया था। अब सवाल उठता है कि राहुल गांधी के कथन का क्या होगा? जब कांगे्रस के शासन में कर्ज में डूबा किसान खुदकुशी कर रहा है तो फिर आम किसान को राहत कैसे मिलेगी? हालांकि मसूदा के कांग्रेस विधायक राकेश पारीक ने किसान की खुदकुशी से इंकार किया है। पारीक का कहना है कि लादू सिंह बीमार था और उसने गलती से दवाई की जगह विषाक्त पदार्थ का सेवन कर लिया। विधायक के दावे में कितना दम है यह जांच के बाद ही पता चलेगा, लेकिन यह सही है कि लादू सिंह ने 6 लाख रुपए की वसूली का नोटिस मिलने के बाद ही विषाक्त पदार्थ खाया।
27 हजार युवाओं की नौकरी दांव पर:
राजस्थान में कांग्रेस की सरकार में 27 हजार ग्राम पंचायत सहायकों की नौकरी भी दांव पर लग गई है। पिछली भाजपा सरकार ने पंचायत सहायकों की सेवा की अवधि 18 मई तक बढ़ा दी थी, लेकिन 21 मई गुजर जाने के बाद भी सेवा विस्तार नहीं किया गया है, जबकि ऐसे पंचायत सहायक 2007 से लगातार काम कर रहे हैं। इन्हीं युवाओं ने पहले विद्यार्थी मित्र के रूप में कार्य किया। भाजपा की सरकार ने 2017 में इन्हें ग्राम पंचायत सहायक के तौर पर नियुक्त कर दिया। प्रति वर्ष सेवा विसतार किया जाता है, लेकिन इस बार कांग्रेस के शासन में सेवा विस्तार नहीं हुआ। 18 मई के बाद से ही 27 हजार ग्राम पंचायत सहायकों के सिर पर तलवार लटक गई है। राहुल ने तो कहा कि राजस्थान के हजारों युवाओं को भी सरकारी स्थायी तौर नौकरी मिलेगी, लेकिन राजस्थान में उल्टा हो गया। जो 27 हजार युवा पहले से नौकरी कर रहे थे, उनकी नौकरी भी छीनी जा रही है। आखिर परेशान लोग हां जाएं? ग्राम पंचायत सहायकों के प्रतिनिधि कमल टेलर ने बताया कि कांग्रेस भी अपने घोषणा पत्र में अस्थायी कार्मिकों को सायी करने का वायदा किया था, लेकिन हमारी तो अस्थायी नौकरी पर भी खतरा हो गया है। ग्राम पंचायत सहायक की समस्याओं के संबंध में मोबाइल नम्बर 9413894235 पर कमल टेलर से जानकारी ली जा सकती है।
एस.पी.मित्तल


विपक्षी दल फिर पहुंचा चुनाव आयोग


एक्जिट पोल के अनुरूप परिणाम नहीं आए तो क्या ईवीएम सही हो जाएगी?
आखिर हार का ठिकरा ईवीएम पर क्यों। विपक्षी दल फिर पहुंचे चुनाव आयोग।



21 मई को देश के प्रमुख विपक्षी दलों के प्रतिनिधियों ने चुनाव आयोग के दफ्तर पर दस्तक दी है। दिग्गज नेताओं ने मुख्य चुनाव आयुक्त से कहा कि 23 मई को ईवीएम में दर्ज मतों की गणना वीवीपेट की पर्चियों से करवाई जावे। विपक्षी नेताओं ने ईवीएम को लेकर अपनी आशंकाओं के बारे में भी चुनाव आयोग को जानकारी दी। आयोग ने विपक्षी दलों को स्पष्ट कर दिया कि मतगणना के लिए सुप्रीम कोर्ट ने जो दिशा निर्देश दिए हैं उन्हीं के अनुरूप मतगणना होगी। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के पांच मतदान केन्द्रों की ईवीएम के मतों की गणना वीवीपेट की पर्चियों से करवाई जाएगी। आयोग ने कहा कि यदि कोई गडबड़ी होगी तो इन पांच ईवीएम के माध्यम से सामने आ जाएगी। आयोग ने विपक्षी दलों को आश्वस्त किया कि ईवीएम की मतगणना में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी नहीं हो सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई तकनीक नहीं है जिससे ईवीएम में दर्ज मतों में कोई बदलाव हो सके। सवाल उठता है कि आखिर विपक्षी दल ईवीएम पर शक क्यों कर रहे हैं? क्या एक्जिटपोल से विपक्ष में घबराहट है? यदि 23 मई को मतगणना के परिणाम एक्जिटपोल के विपरीत आ गए तो क्या ईवीएम सही हो जाएगी? ईवीएम पर तभी शक होगा, जब परिणाम विपक्षी दलों के खिलाफ आएंगे? ईवीएम को लेकर पहले भी कई बार सवाल उठाए गए हैं, लेकिन इन सवालों का आयोग की ओर से ठोस जवाब भी दिया गया है। सब जानते हैं कि मतदान के बाद राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में ही ईवीएम को सील किया जाता है और फिर मतगणना के समय भी इन्हीं प्रतिनिधियों की उपस्थिति में सील को तोड़ा जाता है। ऐसे में ईवीएम में गड़बड़ी की कोई गुंजाइश नजर नहीं आती है। विपक्षी दलों ने भाजपा और नरेन्द्र मोदी को हराने में कोई कसर नहीं छोड़ी। यूपी में पुश्तैनी दुश्मन मायावती और अखिलेश यादव ने हाथ मिला लिया तो बिहार में कांगे्रस ने लालू प्रसाद यादव की पार्टी के साथ गठबंधन किया। बंगाल में तो ममता बनर्जी के समर्थकों ने हिंसा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। राजनीति में यह सब जायज है। जो लोग ईवीएम पर सवाल उठा रहे हैं उन्हें इस बात का भी ख्याल रखना चाहिए कि कांग्रेस शासित प्रदेशों और अन्य प्रदेशों में जहां गैर भाजपा सरकारें हैं, वहां सरकार द्वारा नियुक्त जिला कलेक्टर ही जिला निर्वाचन अधिकारी की भूमिका निभाते हैं। सब जानते हैं कि राज्य सरकारें अपने नजरिए से कलेक्टरों की नियुक्ति करती हैं। ऐसे में यदि किसी भी ईवीएम पर गड़बड़ी की आशंका होगी तो सबसे पहले निर्वाचन अधिकारी की ही जिम्मेदारी होगी। जब विपक्षी सरकारों की निगरानी में ईवीएम रखी हुई है तो फिर गड़बड़ी कैसे हो सकती है।
एस.पी.मित्तल


जिला अधिकारी से लगाई इंसाफ की गुहार

डीएम साहिबा हमें दिलाओं इंसाफ
मेरी बहन को मार दिया, मेने किसी तरह बचाई अपनी जान
पीड़ित युवती ने सुसरालियों के खिलाफ डीएम से लगाई गुहार
एसएसपी को भी कर चुकी शिकायात, पुलिस ने नहीं पकड़े अभी तक आरोपी



गाजियाबाद। एक पीड़ित युवती ने डीएम से गुहार लगाते हुए इंसाफ दिलाने की मांग की। असलतपुर फरूखनगर निवासी पीड़ित युवती नेहा ने बताया कि उसकी और उसकी बहन शालू की शादी 20-11-2013 में हिन्दू रिति रिवाज के अनुसार राहुल गार्डन बैहटा हाजीपुर लोनी के रहने वाले सुशील के पुत्र राजकुमार व रामकुमार के साथ हुई थी। हम दोनों बहनों की शादी में हमारे माता-पिता ने अपनी अहसियत से बढ़चढ़कर दान दहेज दिया था। लेकिन हम दोनों बहनों को हमारे सुसराल के लोग दहेज के लिए शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे। आए दिन दहेज के लिए मारपीट भी करते थे। एक दिन तो मेरे पति राजकुमार ने मेरा हाथ गैस पर रखकर जलाने का प्रयास किया। नेहा ने बताया कि हम दोनों बहनों दहेज में बाइक लाने के लिए आए दिन मारपीट करते थे। इस कारण में काफी दिनों से अपने मायके में आकर रहने लगी। लेकिन सुसराल वालों ने इस दौरान तीन मई को मेरी बहन शालू को फांसी लगाकर मार दिया। जब यह खबर हम लोगों को लगी तो मेरे परिवार के लोग मौके पर पहुंचे। लेकिन मेरे सुसराल के लोगों ने हम लोगों की साथ अभ्रद व्यवाहर करते हुए मारपीट भी की। नेहा ने बताया कि जब हम लोगों ने इनकी शिकायत लोनी बार्डर थाने में की तो पुलिस ने भी सुसराल पक्ष का साथ देते हुए हमारी कोई सुनवाई नहीं की। उल्टा हमें थाने से भगा दिया। नेहा ने बताया कि एसएसपी आॅफिस पर शिकायत देने के बाद आरोपी सुसरालियों के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया।, लेकिन अभी भी मेरी बहन क हत्यारे खुलेआम घूम रहे है। उल्टा हम लोगों को रसूख दार लोगों से फैसला करने की धमकी दी जा रही है। पीड़ित ने बताया कि सुसराल वालों से सांठ गांठ कर मेरे पिता को भी पुलिस ने झूठे केस में फंसा कर जेल भेज दिया। पीड़ित नेहा ने मामले से संबंधित एक शिकायती पत्र डीएम कार्यालय में सौंपा। इस मौके पर पीड़िता की मां ने भी न्याय की गुहार लगाई।


अब नेताओं की खैर नहीं, याचिका दर्ज

 


अब नेताओ की खैर नही


सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर हुई है, इसे आपके आकलन के लिए भेज रहे है .. प्रिय / सम्मानित भारत के नागरिकों... आपसे इस संदेश को पढ़ने का अनुरोध किया जाता है और अगर सहमत हैं,तो कृपया अपनी संपर्क के सभी लोगों को भेजे और बदले में उनमें से प्रत्येक को भी आगे भेजने के लिए कहें। तीन दिनों में, पूरे भारत में यह संदेश होना चाहिए। भारत में हर नागरिक को आवाज उठानी चाहिए__2018 का सुधार अधिनियम__ - सांसदों को पेंशन नहीं मिलनी चाहिए क्योंकि राजनीति कोई नौकरी या रोजगार नही है बल्कि एक निःशुल्क सेवा है। - राजनीति लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत एक चुनाव है,इसकी पुनर्निर्माण पर कोई सेवानिवृत्ति नहीं है,लेकिन उन्हें फिर से उसी स्थिति में फिर से चुना जा सकता है। (वर्तमान में उन्हें पेंशन मिलती है सेवा के 5 साल होने पर)। इसमें एकऔर बड़ी गड़बड़ी यह है कि अगर कोई व्यक्ति पहले पार्षद रहा हो,फिर विधायक बन जाए और फिर सांसद बन जाए तो उसे एक नहीं,बल्कि तीन-तीन पेंशनें मिलती हैं।यह देश के नागरिकों साथ बहुत बड़ा विश्वासघात है जो तुरंत बंद होना चाहिए। - केंद्रीय वेतन आयोग के साथ संसद सदस्यों सांसदो का वेतन भत्ता संशोधित किया जाना चाहिए और इनको इनकम टैक्स के दायरे में लाया जाए। (वर्तमान में वे स्वयं के लिए मतदान करके मनमाने ढंग से अपने वेतन व भत्ते बढा लेते हैं और उस समय सभी दलों के सुर एक हो जाते हैं। - सांसदों को अपनी वर्तमान स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली त्यागनी चाहिए और भारतीय जन-स्वास्थ्य के समान स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में भाग लेना चाहिए। इलाज विदेश में नही भारत मे होना चाहिए इनका,अगर विदेश में करवाना है तो अपने खर्च से करवाएँ,अन्यथा मर जाएँ। मुफ्त छूट,राशन,बिजली,पानी,फोन बिल जैसी सभी रियायत समाप्त होनी चाहिए। (वे न केवल ऐसी बहुत सी रियायतें प्राप्त करते हैं बल्कि वे नियमित रूप से इसे बढ़ाते भी रहे हैं) - अपराधी नेताओं को चुनाव लड़ने से रोका जाए, संदिग्ध व्यक्तियों के साथ दंडित रिकॉर्ड,अपराधिक आरोप और दृढ़ संकल्प, अतीत या वर्तमान को संसद से प्रतिबंधित किया जाना चाहिए, कार्यालय में राजनेताओं के कारण होने वाली वित्तीय हानि,उनके परिवारों,नामांकित व्यक्तियों,संपत्तियों से वसूल की जानी चाहिए। - सांसदों को भी सामान्य भारतीय लोगों पर लागू सभी कानूनों का समान रूप से पालन करना चाहिए। - नागरिकों द्वारा एलपीजी गैस सब्सिडी का कोई समर्पण नहीं जब तक सांसदों और विधायकों को उपलब्ध सब्सिडी,संसद कैंटीन में सब्सिडी वाले भोजन,सहित अन्य रियायतें वापस नहीं ले ली जाती। -संसद में सेवा करना एक सम्मान है,लूटपाट के लिए एक आकर्षक करियर नहीं। -फ्री रेल और हवाई जहाज की यात्रा की सुविधा बंद हो। आम आदमी क्यो उठाये इनकी मौज मस्ती का खर्च यदि प्रत्येक व्यक्ति कम से कम बीस लोगों से संपर्क करता है तो भारत में अधिकांश लोगों को यह संदेश प्राप्त करने में केवल तीन दिन लगेंगे।


एग्जिट पोल पर विश्वास नहीं

 ए'ग्जिट पोल के आकंड़ों को लिया वापिस


इसी तरह का चुनावी सर्वे सामने आना था। आप को क्या उम्मीद थी? वो चैनल जो दिन रात सत्ता के चरण पखारने में लगे हैं मोदी की इच्छा और जरूरत से अलग कोई आंकड़ा देने की हिमाकत कर सकते हैं? उस चैनल के पत्रकार जो सामने मौजूद मोदी से एक सवाल तक नहीं पूछ सकते हैं वो उनकी सत्ता के जमींदोज होने की घोषणा कर सकते हैं। लिहाजा उन्हें जो करना था और पिछले पांच सालों से जो वो कर रहे थे उसी को उन्होंने आगे बढ़ाया है।


इसमें कोई चकित करने वाली बात नहीं है। आश्चर्य तब होता जब वो इससे अलग कोई नतीजा दे रहे होते। दरअसल इन चैनलों को आखिरी समय तक बीजेपी को जीतते हुए दिखाना है। क्योंकि यह मोदी और अमित शाह की जरूरत है। सत्ता अब उनके वजूद की प्राथमिक शर्त बन गयी है। लिहाजा वो अपने आखिरी दम तक उसे हासिल करने की कोशिश करेंगे।


अब उसके लिए क्या कुछ करना पड़ सकता है। और क्या कुछ करेंगे वह तो भविष्य के गर्भ में है। सच यह है कि अगर बीजेपी की सत्ता नहीं बनती हुई दिखती है तो अगले तीन दिन में जो होगा वह शायद भूतो न भविष्यति हो। क्योंकि उन्हें किसी भी कीमत पर सत्ता चाहिए। किसी भी कीमत मतलब किसी भी।


उसके जाने का मतलब उनकी जिंदगी का छूटना है। और कोई भी शख्स इतनी आसानी से अपनी जिंदगी नहीं छोड़ता है। लिहाजा इन तीन दिनों में जो कुछ भी हो जाए वह कम होगा। वैसे तो बीजेपी की प्रेस कांफ्रेंस और उसमें पीएम की मौजूदगी की एक व्याख्या ये भी की जा रही है कि अब वह अमित शाह को एक्जीक्यूटिव हेड के तौर पर पेश कर खुद को स्टेट्समैन की भूमिका में ले आने की तैयारी शुरू कर दिए हैं।


यह प्रेस कांफ्रेंस उसकी शुरूआत भर थी। वैसे भी आप को बता दें कि संघ में प्रचारक रहते मोदी बेहद शौकीन मिजाज थे। राजशाहाना जिंदगी उनकी स्वाभाविक पसंद थी। यही वजह है कि इस लोकतंत्र के भीतर भी सत्ता के शीर्ष पर किसी पीएम की बनिस्पत वह राजा सरीखा व्यवहार करते ज्यादा दिखे।


ऊपर कही गयी बातों की पुष्टि गुजरात के पूर्व गृहमंत्री स्वर्गीय हरेन पांड्या के बयान से की जा सकती है। जिसमें उन्होंने अपनी हत्या से कुछ दिन पहले ही बताया था कि संघ में रहते मोदी लक्जरी जीवन पसंद करते थे। जिसको लेकर संघ के भीतर उनके प्रति एक तरह की नाराजगी थी।


पांड्या का कहना था कि वह राजाओं की तरह जीवन जीना चाहते थे। और इसी के चलते उनकी कुछ ही दिनों में संघ से विदाई तय मानी जा रही थी। लेकिन उसी बीच गुजरात की राजनीति में आए नये घटनाक्रमों ने उन्हें नया जीवन दे दिया। सत्ता में आने के बाद मोदी की जीवनशैली में ये बातें बिल्कुल साफ तौर पर देखी जा सकती हैं।
बहरहाल चैनलों ने मोदी को जिताने की दौड़ में जितने ब्लंडर किए हैं उसके लिए उन्हें कभी माफ नहीं किया जा सकता है। टाइम्स नाऊ ने तो उत्तराखंड में बाकायदा आप यानि आम आदमी पार्टी को 2.90 फीसदी वोट दे दिए हैं जो बीएसपी से भी ज्यादा हैं। जबकि सचाई ये है कि आप वहां चुनाव ही नहीं लड़ी है।


इसी तरह से एक एजेंसी ने हरियाणा में बीजेपी को 22 सीटें दे दी है। जबकि सूबे में लोकसभा सीटों की संख्या महज 10 है। यूपी में किसी ने गठबंधन को 56 दिया तो किसी ने 17 और किसी ने 11। अब इतनी विविधता भला क्या किसी एग्जिट पोल की हो सकती है। ऐसे में किसी के लिए अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि ये आंकड़े कैसे तैयार किए गए हैं। हां अब ये भांग के नशे में बनाए गए हैं या फिर सत्ता ने गर्दन पर पिस्तौल रख कर बनवाया है। फैसला करना आप का काम है।


अपनी भूल का एहसास इन चैनलों को भी होने लगा है। इंडिया टुडे ने अपने कई आंकड़ों को वेबसाइट से हटा लिया है। खुद को सबसे ज्यादा विश्वसनीय बताने वाले चैनल का अगर ये हाल है तो बाकियों का अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है


RISAT-2B से मजबूत होगी भारतीय क्षमता

RISAT-2B से मजबूत होगी भारत की खुफिया क्षमता, इसरो बुधवार को करेगा लॉन्च


रडार इमेजिंग अर्थ ऑब्जर्वेशन सेटेलाइट (आरआईएसएटी-2बी) के साथ प्रक्षेपित होने जा रहे भारत के पोलर सैटेलाइट लांच व्हीकल (पीएसएलवी) की मंगलवार को उल्टी गिनती शुरू हो गई।


इसरो के एक अधिकारी ने बताया कि पीएसएलवी बुधवार को प्रक्षेपित होगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अधिकारी के अनुसार, पीएसएलवी के प्रक्षेपण की 25 घंटों की उल्टी गिनती मंगलवार को सुबह 4।30 बजे शुरू हो गई। इसरो के सांख्यिकी तंत्र के अनुसार, 'पीएसएलवी-सी46' आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में रॉकेट पोर्ट से पहले लांच पैड से बुधवार सुबह 5।30 बजे प्रक्षेपित होगा।


रॉकेट अपने साथ 615 किलोग्राम का 'आरआईएसएटी-2बी' ले जाएगा जो आकाश से भारत की खुफिया क्षमताओं को और मजबूत करेगा। भारत की एक अन्य 'आरआईएसएटी-2बीआर' नाम के रडार इमेज सैटेलाइट को भी इसी साल लांच करने की योजना है। इसरो के अनुसार, 'आरआईएसएटी-2बी' का उपयोग कृषि, वन विज्ञान और आपदा प्रबंधन में किया जाएगा।


भाजपा के भोज में नितिश उद्धव मोदी शामिल

भाजपा के रात्रिभोज कार्यक्रम में पहुंचे पीएम मोदी, नीतीश और उद्धव ठाकरे भी हुए शामिल


भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने एनडीए के वरिष्ठ नेताओं को मंगलवार को रात्रि भोज पर आमंत्रित किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी एनडीए नेताओं के साथ रात्रिभोज में शिरकत करने के लिए अशोका होटल पहुंच गए। यहां गठबंधन के नेताओं ने उनका स्वागत किया।


इससे पहले लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल में राजग को बहुमत मिलने के पूर्वानुमान के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रिपरिषद के सदस्यों से मंगलवार को यहां मुलाकात की और उनका आभार प्रकट किया। यह बैठक भाजपा मुख्यालय में हुई। शुरुआत में सहयोगी दलों के नेताओं रामविलास पासवान, हरसिमरत कौर, अनुप्रिया पटेल सहित बाकि नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया। भाजपा ने अपने नेतृत्व वाले इस गठबंधन को और अधिक मजबूती देने और सरकार गठन के बारे में विचार विमर्श के लिए बुलाया।


इस बैठक में प्रधानमंत्री के अलावा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह सहित राजग सरकार में घटक दलों के मंत्री भी शामिल हुए। बैठक का नाम 'स्वागत एवं आभार मिलन समारोह' रखा गया। इसमें केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, स्मृति ईरानी, पीयूष गोयल, मुख्तार अब्बास नकवी, राधामोहन सिंह भी शामिल हुए।


 


पाकिस्तान का नया उच्चायुक्त नियुक्त

पाकिस्तान ने भारत में मोईन उल हक को अपना नया उच्चायुक्त नियुक्त किया


पाकिस्तान ने राजनयिक मोईन उल हक को भारत में अपना नया उच्चायुक्त नियुक्त किया है। पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने यह जानकारी देते हुए कहा कि भारत से द्विपक्षीय संबंधों के लिहाज से नई दिल्‍ली देश के लिए काफी महत्‍वपूर्ण है। यही वजह है कि हम मोईन उल हक को भारत भेज रहे हैं। मुझे उम्‍मीद है कि मोईन उल हक बेहतरीन काम करेंगे। हक फ्रांस में पाकिस्तान के राजदूत थे।


पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री के बयान के मुताबिक, प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को भारत, चीन और जापान सहित करीब दो दर्जन देशों में पाकिस्तान के नए उच्चायुक्तों एवं राजदूतों की नियुक्ति को मंजूरी दी। पाकिस्तान के नए विदेश सचिव के रूप में सोहेल महमूद की नियुक्ति के बाद से भारत में पाकिस्तानी उच्चायुक्त का पद खाली था। शाह महमूद कुरैशी ने एक विडियो स्‍टेटमेंट में कहा कि सलाह-मशविरे के बाद मैंने फ्रांस में मौजूदा राजदूत मोईन उल हक को नियुक्त करने का फैसला लिया है।


एग्जिट पोल लोक सभा 2019

EXIT POLL - रेश राघानी


चारों तरफ जहां टीवी चैनल ऑन करो वहीं पर लोकसभा चुनाव के आने वाले नतीजों का विश्लेषण चल रहा है। हर टीवी चैनल के पास अपना अपना तरीका है एग्जिट पोल की भविष्यवाणी हेतु सर्वे का। कोई किसी एजेंसी से सर्वे करवाता है। तो कोई वोटरों में से कुछ तादाद का जनमत संग्रह करके एग्जिट पोल के नतीजे पेश करता है ।
*टीम होराइजन हिंद ने इस लोकसभा चुनाव के दौरान लगातार 15 दिन तक , सोशल मीडिया पर चल रहे लगभग सभी राजनीतिक दलों की प्रदेश इकाई के, बने हुए सोशल मीडिया पेजिस से जुड़े युवाओं के रुख का अध्यन किया है । क्योंकि आज देश की जनसंख्या का लगभग 52 प्रतिशत भाग 18 से 35 साल की उम्र का युवा है। इस युवा वर्ग के मानस का पता उनके फेसबुक , इंस्टाग्राम आदि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से चल रहा है। इसी पर आधारित इस एग्जिट पोल में हम किस हद तक यथार्थ के धरातल तक पहुंच पाए हैं ? इसका फैसला आने वाला चुनावी परिणाम करेगा।


नरेश राघानी


लोनी विधायक का बुके देकर किया सम्मान

 



सूचना प्रौद्योगिकी के स्वर्णकालीन युग में जी रहें है, हम- विधायक नंदकिशोर गुर्जर


गाजियाबाद, लोनी! लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने आईडिया-वोडाफोन कम्पनी के विलय पर इंदिरापुरी के आशीर्वाद पैलेस में आयोजित वार्षिकोत्सव समारोह में प्रतिनिधि पंडित ललित शर्मा के साथ पहुंचे। इस दौरान वोडाफ़ोन-आईडिया के अधिकारियों ने विधायक को बुके देकर सम्मानित किया। विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने आयोजनकर्ताओं को बधाई देते हुए कहा कि आज के दौर में हम सूचना एवं प्रौद्योगिकी के स्वर्णकाल में जी रहें है एक दौर हुआ करता था जब मोबाईल से बात करना आम लोगों के पहुंच से बाहर था लेकिन मौजूदा सरकार ने सूचना एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र में स्पेक्ट्रम इतियादी का न्यायसंगत वितरण कर इसे आम जनमानस तक पहुंचाया है। आज टेलीकॉम सेक्टर के दो बड़ी कंपनियों ने समझौता कर मोबाईल उपभोक्ताओं को लाभ पहुंचाया है। आज नेटवर्क मजबूत हुआ है, दोनों कंपनियों के टावर से ही उपभोक्ताओं को मजबूत नेटवर्क मिल रहा है। आज ज्यादा टावर लगाने की होड़ पर भी विराम लगा है , जिससे लोगों की सेहत पर भी विपरीत असर पड़ने पर विराम लगेगा। वहीं विधायक ने कहा कि आज विज्ञान के क्षेत्र में मौजूदा सरकार की प्रतिबद्धता के कारण देश विश्व की तीन शक्तियों में शामिल हो पाया है, विदेशों के सेटलाइट को इसरो द्वारा प्रेक्षेपित किया जा रहा है जिससे पूरे विश्व में भारत का मान-सम्मान बढ़ा है। मौसम, प्राकृतिक आपदा में अब हम सटीकता से जानकारी हासिल कर पा रहे हैं, जिस कारणवश प्राकृतिक आपदा में जान-माल के नुकसान को भी हम लोग कम कर पाएं है। यह सब संभव हो पाया है देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में भारत को सर्वश्रेष्ठ बनाने की कटिबद्धता के कारण, संकल्प के कारण। साथ ही नंदकिशोर गुर्जर ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों से जाति-धर्म से ऊपर उठकर लोनी को स्वच्छ, सुंदर, विकसित एवं सुरक्षित बनाने के लिए आगे आने का आह्वान किया।
कार्यक्रम का आयोजन वोडाफोन और आइडिया की एजेंसी के मैनेजर श्री अंकुर शर्मा जी ने किया एवं मंच संचालन श्री गौरी शंकर पांडे जी ने किया इस दौरान अखिल भारतीय ब्राह्मण महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री प्रवेश भारद्वाज, भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष श्री पं सचिन शर्मा, राष्ट्रीय महा सचिव किसान यूनियन श्री प्रवीन शर्मा जी दीपेश शर्मा श्री मुकेश शर्मा जी श्री सतीश शर्मा जी एवं सैकड़ों की तादात में उपभोक्ता डीलर एवं कंपनी के कर्मचारी आदि मौजूद रहें।


पुलिस को फिर दौड़ाकर पीटा

भीलवाड़ा पुलिस से मारपीट
भीलवाड़ा।पुलिसकर्मियों को ग्रामीणों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा!जूते-चप्पल और लकड़ियों से मारपीट!कोटपुतली थाना के एसआई और कांस्टेबल को पीटा!ग्रामीणों ने गाड़ी की चाबी भी छीनी!


गंगापुर थाने में राज कार्य में बाधा और लूट का मामला दर्ज! गंगापुर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, डीवाईएसपी मौके पर पहुंचे! पुलिस जत्था ने पुलिस कर्मचारियों को बचाया ! एएसआई बुद्धाराम और कांस्टेबल आरसीलाल से मारपीट!काला भाटा गांव में आरोपी को गिरफ्तार करने के दौरान मारपीट! जान बचाने के लिए जंगल में भागे पुलिस अधिकारी और कर्मचारी ।


करोड़ों की अधिकारी, लोकायुक्त का छापा

इंदौर ब्रेकिंग---करोड़ो की महिला अधिकारी, लोकायुक्त का छापा


उषागंज छावनी में सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी कोमल बाली के यहां लोकायुक्त पुलिस ने सुबह 5.30 बजे छापा मारा! जिसमें अब तक संयोगितागंज क्षेत्र में दो मकान, देव गुराडिया क्षेत्र में एक फॉर्म हाउस, घर पर 49,000 कैश लगभग 2 किलो सोना , कई लग्जरी गाड़ियां और बैंक लॉकर्स पाए गए हैं! सुबह लगभग 35 अधिकारियों द्वारा तीन स्थानों पर कार्यवाही की गई! फिलहाल करवाई जारी, करोड़ों की सम्पत्ति मिलने की सम्भावना!


आईएमटी के खिलाफ सीबीआई जांच

गाजियाबाद के IMT के खिलाफ CBI जांच का प्रस्ताव, सीएम कमलनाथ के बेटे हैं प्रेसिडेंट


दिल्ली से सटे गाजियाबाद स्थित स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ मैंनेजमेंट टेक्नोलॉजी (आईएमटी) पर जल्द ही केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) का शिकंजा कस सकता है! जानकारी के मुताबिक, अवैध जमीन कब्जा करने और लाजपत राय कॉलेज के लिए आवंटित भूमि पर आईएमटी का निर्माण करने के आरोप को लेकर उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने सीबीआई जांच कराने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है!


दरअसल, बीजेपी के वरिष्ठ नेता और निगम पार्षद राजेंद्र त्यागी ने शिकायत कर राज्यपाल राम नाईक से मामले की! कैग और सीबीआई से जांच की मांग की थी! पूरा मामला मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से जुड़ गया है! क्योंकि उनके बेटे बकुल नाथ देश के नामी मैनेजमेंट संस्थान आईएमटी के प्रेसिडेंट हैं!


धराशाई हो गए थे एग्जिट पोल


जब धराशायी हो गए थे सारे एग्जिट पोल्स


चुनावी सर्वे एजेंसियों के लिए 2004 का लोक सभा सबसे ज्यादा निराश करने वाला था! इस चुनाव में सारी एजेंसियों के आकलन फेल हो गए थे! इसे सबसे बड़ा फेल्योर माना गया! सभी एजेंसियों ने 'इंडिया शाइनिंग' का नारा देने वाली एनडीए को दोबारा जनादेश मिलने का अनुमान लगाया था! रिजल्ट के दिन एनडीए 200 का आंकड़ा भी नहीं छू पाई थी!1999 में कारगिल युद्ध जीतने के बाद भी एनडीए 189 सीटों तक सिमट कर रह गई थी!


इस चुनाव में 222 सीटें हासिल करने वाली यूपीए ने समाजवादी पार्टी (SP) और बहुजन समाज पार्टी (BSP) के सहयोग से सत्ता हासिल की! 2009 का लोकसभा चुनाव भी एक तरह से सर्वे एजेंसियों का फेल्योर रहा. इस चुनाव में एजेंसियों ने UPA को 199 और NDA को 197 सीटें मिलने का कयास लगाया था! जबकि यूपीए जबरदस्त बढ़त लेते हुए 262 संसदीय सीटों पर लोगों का विश्वास जीतने में कामयाब रही! एनडीए को 159 सीटों पर संतोष करना पड़ा था!


लोनी में गंदे पानी ने ली है पहले भी कहीं जान

गंदे पानी की सप्लाई कर रही है नगर पालिका


गाजियाबाद ,लोनी ! ये कोई साबुन युक्त पानी नहीं ये पानी पीने के लिए नगर पालिका द्वारा प्रेम नगर मे सप्लाई किया जा रहा है ! टंकी द्वारा पानी की लाइन डालकर, जिसको पीने के लिए तो दूर की बात नहाने के लिए भी इस्तेमाल करना मुश्किल है। जो आये दिन इसी तरह से गंदा पानी लाइन के द्वारा लोगो के घरों तक पहुँचता है। एक बार पहले भी इसी पानी के पीने से प्रेम नगर मैं बड़ा हादसा हो चुका है जिसमे कई लोगो को अपनी जान गवानी पड़ी थी और बहुत लोग गंभीर बीमारी का शिकार हो गए थे। इसके बारे मैं पहले भी कई बार सूचित किया जा चुका है लेकिन कोई हल नही हुआ । आला अधिकारियों से निवेदन है कि इस पर समय रहते सीघ्र ध्यान नहीं दिया गया तो फिर कोई बड़ा हो सकता है। अतः इसका हल होने तक प्रेम नगर मैं पीने योग्य पानी उपलब्घ कराया जाय।


यूपी-गुजरात, एमपी के मुख्यमंत्रियों के इस्तीफे की मांग

अकांशु उपाध्याय              नई दिल्ली। कांग्रेस ने कोविड से मौत के आंकडे़ छुपाने का आरोप लगाते हुए भाजपा की प्रदेश सरकारों को आड़े हाथ लिया...