मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

यूपी: लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे अखिलेश

यूपी: लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे अखिलेश 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। इसके पीछे सियासी निहितार्थ हैं। वह उत्तर प्रदेश में नेता प्रतिपक्ष की भूमिका निभाना चाहते हैं और 2027 के विधानसभा चुनाव के लिए यूपी में बने रहना चाहते हैं। फ्लैशबैक में जाएं तो अखिलेश यादव ने मैनपुरी के करहल से विधायक बनने के बाद आजमगढ़ लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने नेता प्रतिपक्ष का पद खुद संभाला। चाचा शिवपाल के साथ आने के बाद नेता प्रतिपक्ष के पद को लेकर कयासबाजी शुरू हुई, लेकिन वे अपने फैसले पर अडिग रहे।
लोकसभा चुनाव के दौरान उनके आजमगढ़ अथवा कन्नौज से मैदान में उतरने की संभावना जताई जा रही थी, लेकिन आजमगढ़ से धर्मेंद्र यादव और कन्नौज से तेज प्रताप यादव को उम्मीदवार घोषित कर उन्होंने इन संभावनाओं पर विराम लगा दिया। हालांकि इसके पीछे रणनीति बताई जा रही है। वरिष्ठ पत्रकार नागेंद्र का कहना है कि लोकसभा चुनाव न लड़ कर अखिलेश यादव ने एक तीर से कई निशाने साधे हैं। वह एक लोकसभा सीट पर खुद को बांधने के बजाय पूरे प्रदेश में चुनावी दौरे कर सकेंगे। दूसरी तरफ जनता के बीच मौजूद रहने का संदेश देंगे।
नेता प्रतिपक्ष के पास कैबिनेट मंत्री की तरह कई अधिकार होते हैं। प्रदेश की सियासत के आधार पर भी नेता प्रतिपक्ष का पद अहम माना जाता है। जबकि सांसद के पास निधि और कुछ विशेषाधिकार ही होते हैं। अखिलेश यादव ने कन्नौज से तेज प्रताप यादव को मैदान में उतारकर पार्टी के अंदर किसी तरह के विरोध को उभरने से रोका है। कन्नौज से पहले डिंपल यादव सांसद थीं, लेकिन मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद वह मैनपुरी से लोकसभा उपचुनाव लड़ीं, जबकि यहां से तेज प्रताप सांसद रह चुके हैं। ऐसे में मैनपुरी के बदले कन्नौज देकर उन्होंने पारिवारिक एकजुटता का संदेश दिया है।
तेज प्रताप राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के दामाद हैं, तो सपा से बगावत करने वाले हरिओम के नाती भी हैं। बता दें कि मैनपुरी से डिंपल यादव, बदायूं से आदित्य यादव, फिरोजाबाद से अक्षय यादव, आजमगढ़ से धर्मेंद्र यादव को पहले ही उम्मीदवार घोषित किया जा चुका है। इन सीटों पर पारिवार से इतर किसी उम्मीदवार के उतारने से भितरघात की आशंका थी।
भाजपा को लोकसभा के साथ ही 2027 के विधानसभा चुनाव में हराने के लिए इस बार सपा अध्यक्ष चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। वह जनता के बीच रहना चाहते हैं। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी भी चुनाव नहीं लड़ रही हैं। किसी नेता का चुनाव न लड़ना पार्टी की रणनीति का हिस्सा है।

'पतंजलि' आयुर्वेद को जमकर लताड़ लगाई: एससी

'पतंजलि' आयुर्वेद को जमकर लताड़ लगाई: एससी 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर औपचारिकता पूरी करने के लिए पतंजलि आयुर्वेद की ओर से अपनी दवा कोरोनिल को कोरोना से निजात की औषधि बताएं जाने के प्रचार पर कोने में दिए गए छोटे से माफीनामे को मंजूर नहीं करते हुए अदालत द्वारा एक बार फिर से पतंजलि आयुर्वेद को जमकर लताड़ लगाई गई है। अदालत ने अखबारों में छपे पतंजलि आयुर्वेद के माफी नामे पर सवाल उठाते हुए कहा है कि आपके विज्ञापन तो इस माफ़ीनामे से बड़े होते हैं। मंगलवार को पतंजलि आयुर्वेद की ओर से अपनी दवा कोरोनिल को कोरोना से निजात दिलाने वाली औषधि बताएं जाने का प्रचार करने पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा एक बार फिर से पतंजलि आयुर्वेद को जमकर लताड़ लगाई गई है। अदालत ने इस मामले में पतंजलि आयुर्वेद और बाबा रामदेव से कहा था कि वह भ्रामक विज्ञापन मामले को लेकर सार्वजनिक तौर पर माफी मांगे। इससे पहले बाबा रामदेव और पतंजलि के महाप्रबंधक आचार्य बालकृष्ण ने जब हाथ जोड़कर अदालत में माफी मांगी थी तो कोर्ट ने उसे खारिज करते हुए कहा था कि वह सार्वजनिक रूप से अपने किए के लिए माफी मांगे। लेकिन मंगलवार को जब अदालत में बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण की पेशी हुई तो बेंच ने सवाल उठाया कि आखिर माफीनामा बीते दिन ही क्यों प्रकाशित कराया गया है? इसके अलावा अदालत ने यह भी सवाल उठाया है कि क्या आपका माफीनामा उतने बड़े ही आकर में छपा है? जितने बड़े कंपनी के विज्ञापन होते हैं। इस पर पतंजलि आयुर्वेद के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि इस माफीनामे में सुप्रीम कोर्ट में वकीलों की पेशी के बाद भी प्रेस कांफ्रेंस करने और विज्ञापन में गलत दावा करने पर माफी मांगी गई है।  सुप्रीम कोर्ट की ओर से विज्ञापन और माफीनामे के साइज के लेकर सवाल उठाया गया तो उन्होंने कहा कि इसके प्रकाशन में 10 लाख रुपए का खर्च आया है। अदालत ने अब इस मामले को लेकर आगामी 30 अप्रैल को सुनवाई करने के लिए कहा है। अदालत ने बाबा रामदेव एवं बालकृष्ण से कहा है कि पतंजलि आयुर्वेद के माफीनामे को हाईलाइट करके पब्लिश्ड कराया जाए।

सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, 9 युवक-युवतियां अरेस्ट

सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, 9 युवक-युवतियां अरेस्ट 

संदीप मिश्र 
रामपुर। पटवाई थाना क्षेत्र में पुलिस ने बड़े सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए आरोपी मकान मालिक समेत नौ युवक-युवतियों को गिरफ्तार किया है। 
पुलिस को मौके पर सेक्स वर्धक दवाएं भी मिलीं। क्षेत्र मे लंबे समय से ये गोरखधंधा चल रहा था। पुलिस ने सभी आरोपियों का चालान कर दिया। इनमें से कुछ मुरादाबाद और बरेली के भी हैं। सोमवार को पटवाई थाना की डायल 112 पुलिस को सूचना मिली थी कि पटवाई थाना क्षेत्र के नदनऊ गांव के एक घर में सेक्स रैकेट का करोवार काफी दिनों से चल रहा है। जिस कारण पास में रहने वाले बच्चों के साथ ही लोगों को काफी परेशानी होती है। मामले की सूचना मिलने पर डायल यूपी-112 ने जानकारी थाना पुलिस और सीओ को दी। सीओ बिलासपुर सूचना के बाद पटवाई थाने पहुंचे और पटवाई थाना पुलिस के साथ मकान पर छापा मार दिया। इस दौरान मकान में मौजूद लोगों में खलबली मच गई। पुलिस ने मौके से तीन युवतियां और छ: युवक पकड़ लिए। इनमें एक मकान स्वामी भी शामिल था। ये सभी आपत्तिजनक हाल में थे। जिस पर पुलिस ने सभी को हिरासत में लेकर जांच शुरू कर दी। पुलिस की जांच में सेक्स रैकेट का खुलासा हुआ। पुलिस का दावा है कि मौके से सेक्सवर्धक दवाएं भी बरामद की गई हैं। थाना प्रभारी पटवाई अजय शर्मा ने बताया कि पकड़े गए आरोपी बरेली, मुरादाबाद और रामपुर के है।

लाखों की चोरी कर फरार हुए बदमाश, लापरवाही

लाखों की चोरी कर फरार हुए बदमाश, लापरवाही 

मनोज सिंह ठाकुर 
नोरौजाबाद। कानून व्यवस्था को लेकर लोकसभा चुनाव के प्रचार में बड़े-बड़े दावे करने वाली राज्य सरकार की पुलिस की पोल दिनदहाड़े होने वाली चोरियां खोलकर सबके सामने रख रही है। इसके बावजूद मंत्री और नेता झूठे दावे करने से नहीं चूक रहे हैं। चोर उचक्के और बदमाश पिछले 50 दिनों के भीतर तकरीबन 50 लाख रुपए की दिनदहाड़े चोरियां कर पब्लिक को चपत लगा चुके हैं। इसके बावजूद पुलिस अभी तक किसी भी घटना का खुलासा नहीं कर पाई है। 
मंगलवार को सामने आई चोरी की एक बड़ी घटना के अंतर्गतरिश्तेदारी में गए परिवार की गैर मौजूदगी का फायदा उठाते हुए मकान में घुसे बदमाशों ने दिनदहाड़े ताले तोड़कर लाखों रुपए की नगदी और लाखों रुपए की कीमत सोने चांदी के जेवरात चोरी कर लिए और पुलिस सुरक्षा की पोल खोलते हुए आराम के साथ पुलिस को चुनौती देते हुए फरार हो गए। शहडोल जोन के एडीजीपी ने पीड़ित के घर पहुंच कर मामले के जल्द खुलासे का आश्वासन दिया है। उमरिया जिले के नौरोजाबाद थाना अंतर्गत छादा खुर्द वार्ड नं 7 मे रहने वीरेश कुमार मिश्रा के घर पर अज्ञात चोरों ने दिनदहाड़े एक बड़ी चोरी की घटना को अंजाम दिया है। घटनाक्रम के मुताबिक वीरेश कुमार मिश्रा अपनी पत्नी प्रार्थना मिश्रा एवं अपने पुत्र वेदू मिश्रा के साथ अपने निजी वाहन से जयसिंहनगर स्थित रिश्तेदारी में गए हुए थे! ज़ब वीरेश मिश्रा अपने परिवार के साथ वापस अपने घर छादा खुर्द पहुँचे और घर मे सामने के गेट मे लगे ताले को खोलकर अंदर गए तो दरवाजा अंदर से बंद होने के कारण नहीं खुला। फिर वे घर के पीछे के दरवाजे के पास गए तो उन्होंने देखा कि पीछे का दरवाजा टुटा हुआ है और अंदर मे लगा एलड्राप भी निकला हुआ है। 
उन्होंने घर के अंदर जाकर देखा तो अलमारी का ताला और लाॅकर भी टूटा हुआ है। टूटा लाॅकर देखने बाद पता चला कि लाॅकर मे रखे करीब साढ़े तीन लाख नगदी सहित, लगभग 40 लाख के सोने और चांदी के जेवरात अज्ञात चोरों के द्वारा चुरा लिए गए है। अपने घर मे हुई चोरी कि घटना कि सूचना वीरेश कुमार मिश्रा द्वारा नौरोजाबाद थाने में दी गई। नौरोजाबाद के छादा खुर्द वार्ड नं 7 मे हुई चोरी की बड़ी वारदात की गंभीरता को समझते हुए उमरिया एस पी ने घटना स्थल पहुंच कर मौका निरीक्षण किया। तत्पश्चात f. S. L टीम एवं बाँधवगढ़ पार्क से आए स्पेशल डॉग के द्वारा अज्ञात चोरो का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। नौरोजाबाद में दिन दहाड़े बड़ी चोरी होने की सूचना एडीजीपी शहडोल जोन दिनेश चंद्र सागर को लगी तो उन्होंने पीड़ित के घर पहुँचकर उनको आश्वासन दिया कि जल्द ही चोरी की घटना को अंजाम देने वाले अज्ञात चोर पुलिस के गिरफ्त मे होंगे। उन्होंने कहा चोरी करके फरार हुए बदमाशों पर 30000 रुपए का इनाम घोषित करते हुए कहा कि जो भी व्यक्ति हमें अज्ञात चोरों के बारे में सूचना देगा, उसको यह इनाम दिया जाएगा और उसका नाम गुप्त रखा जाएगा। उल्लेखनीय है कि इस घटना से पहले भी दिनदहाड़े चोरी की कई घटनाएं हो चुकी है। सभी पीड़ितों ने पुलिस को मामले की जानकारी देते हुए चोरी की घटनाओं के खुलासे की डिमांड की है। लेकिन रोजाना गस्त के दावे करने वाली पुलिस अभी तक चोरों का पता लगाकर दिनदहाड़े चोरी किए गए माल को बरामद करने में पूरी तरह से असफल रही है।

'पतंजलि' आयुर्वेद ने देश के लोगों से माफी मांगी

'पतंजलि' आयुर्वेद ने देश के लोगों से माफी मांगी 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। अपनी दवाइयों को लेकर भ्रामक विज्ञापन देने के मामलें में फंसी पतंजलि आयुर्वेद ने विभिन्न अखबारों में विज्ञापन जारी करते हुए देश के लोगों से माफी मांगी है। 
पतंजलि की ओर से अदालत में माफीनामा फाइल करते हुए अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने कहा है कि हमने माफी नामा फाइल कर दिया है और विज्ञापन 67 अखबारों में प्रकाशित किया गया है। मंगलवार को पतंजलि विज्ञापन मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के दौरान पतंजलि के एडवोकेट मुकुल रोहतगी ने जस्टिस हिमा कोहली एवं जस्टिस अमानतुल्लाह की बेंच के सम्मुख कहा है कि हमने माफीनामा फाइल कर दिया है और कोर्ट के मुताबिक पतंजलि की ओर से 67 विज्ञापनों में अखबारों में माफी नाम प्रकाशित कराया गया है। सुनवाई कर रही बेंच ने कहा है कि आपका विज्ञापन जैसे रहते हैं क्या इस विज्ञापन का साइज भी वैसा ही था? इस पर पतंजलि के वकील ने कहा कि नहीं, इसमें बहुत पैसा खर्च होता है कोर्ट ने कहा कि ठीक है। डॉक्टर पतंजलि के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा है कि पतंजलि आयुर्वेद ने सोमवार को 67 न्यूज़ पेपर में अपना माफीनामा प्रकाशित किया है। 
इसमें लिखा गया है कि पतंजलि आयुर्वेद सुप्रीम कोर्ट का पूरा सम्मान करता है। सुप्रीम कोर्ट में हमारे वकीलों ने हलफनामा पेश किया है, उसके बाद हमने विज्ञापन प्रकाशित किया और प्रेस कॉन्फ्रेंस की। हम इसके लिए माफी मांगते हैं और भविष्य में हम कभी ऐसी गलती दोबारा नहीं करेंगे।

सीएम केजरीवाल को 'इंसुलिन' की खुराक दी गई

सीएम केजरीवाल को 'इंसुलिन' की खुराक दी गई 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय द्वारा शराब नीति घोटाला से जुड़े मनी लांड्रिंग के मामलें में गिरफ्तार करके जेल भेजे गए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आखिरकार तिहाड़ जेल प्रशासन द्वारा इंसुलिन की खुराक दे दी गई है। 
शुगर लेवल 217 पहुंचने पर इंसुलिन की कम खुराक दी गई है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के शुगर को नियंत्रित करने के लिए इंसुलिन की खुराक देने के मामले को लेकर चल रही हायतौबा के बीच सोमवार की देर शाम तिहाड़ जेल प्रशासन की ओर अरविंद केजरीवाल को इंसुलिन की खुराक दी गई है।  जेल प्रशासन के मुताबिक अरविंद केजरीवाल का शुगर लेवल 217 पहुंच गया था, इसलिए उन्हें इंसुलिन की कम खुराक दी गई है। 
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री केजरीवाल का शुगर लेवल बढ़ने पर इंसुलिन देने की मांग वाली याचिका पर अदालत ने 22 अप्रैल को एम्स के डॉक्टरों का बोर्ड बनाने का आदेश दिया था। इसके बाद मंगलवार को तिहाड़ जेल प्रशासन की ओर से बताया गया है कि केजरीवाल को सोमवार की शाम इंसुलिन की खुराक दी गई है। जेल अधिकारियों ने कहा है कि कम खुराक वाली इंसुलिन की केजरीवाल को दो यूनिट दी गई है, क्योंकि सोमवार की शाम उनका शुगर लेवल 217 हो गया था। एम्स की टीम ने कहा था कि शुगर लेवल 200 पार होने पर अरविंद केजरीवाल को कम खुराक वाली इंसुलिन दी जा सकती है।

वार्ड में आग, 30 से अधिक घर जलकर राख हुए

वार्ड में आग, 30 से अधिक घर जलकर राख हुए 

अविनाश श्रीवास्तव 
बेगूसराय। बिहार के बेगूसराय जिले से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। जहां जिले के डंडारी थाना क्षेत्र के तेतरी वार्ड नंबर 15 में भीषण आग लगने से 30 से अधिक घर जलकर राख हो गए। बीती रात हुई इस घटना के बाद लोगों का सब कुछ उगड़ गया। इस घटना में आधा दर्जन बकरी सहित लाखों के गेहूं और भूषा साहित अन्य सामान जलकर राख हो गए है। वहीं, घटना के बाद काफी देर तक अफरा तफरी का माहौल बना रहा। लोग जैसे तैसे आग पर काबू पाने का प्रयास करते रहे। बाद में दमकल की गाड़ियों ने आकर आग पर काबू पाया। इस घटना से गांव में मातम पसरा हुआ है। बताता जा रहा कि जले हुए सभी घर खपरैल, ऐस्बेस्इटस ओर फूस के बने हुए थे। आग लगने के बाद मौके पर भगदड़ जैसी स्थिति उत्पन्न हो गईं थी। लोग जैसे तैसे घर से निकलकर अपनी जान बचाने के लिए भागने लगे। बताया जा रहा कि एक घर में अचानक से आग लग गई। जिसके बाद देखते ही देखते आग ने विकराल रुप ले लिया। ऐसी चर्चा है कि बिजली की एक चिंगारी से यह आग लगी है, पर इसकी कोई पुष्टि नहीं कर रहा है। इस संबंध में ग्रामीण माज़ो महतो ने बताया कि घटना के वक्त वो लोग बांध पर थे। इस बीच घर के पास आग लग गई। जब तक लोग दौड़ कर आते तब तक आग बेकाबू हो गई। इस घटना में भारी नुकसान हुआ है। वहीं, घटना के संबंध में मुखिया आदित्य राज वर्मा ने बताया कि आग लगी कि इस घटना में 30 से 40 परिवार प्रभावित हुए है। उन्होंने बताया कि सबसे पहले एक झोपड़ी नुमा घर के ऊपर आग लग गई थी, जिसके बाद आग ने विकराल रूप ले लिया ओर एक के बाद एक कर 30 घरों को अपनी चपेट में ले लिया। उन्होंने बताया कि बिजली की एक चिंगारी से आग लगने की बात ग्रामीण बता रहें है, पर किसी ने देखा नहीं है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-186, (वर्ष-11)

पंजीकरण:- UPHIN/2014/57254

2. बुधवार, अप्रैल 24, 2024

3. शक-1945, बैशाख, कृष्ण-पक्ष, तिथि-प्रतिपदा, विक्रमी सवंत-2079‌‌। 

4. सूर्योदय प्रातः 06:03, सूर्यास्त: 06:43।

5. न्‍यूनतम तापमान- 29 डी.सै., अधिकतम- 17+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

अगले 4-5 दिनों तक तेज 'हीटवेव' की संभावना

अगले 4-5 दिनों तक तेज 'हीटवेव' की संभावना  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। इस समय देश में सभी देशवासियों का गर्मी से हाल बेहाल है और अभी...