बुधवार, 22 नवंबर 2023

इजरायल व हमास के युद्ध का विराम, ऐलान किया

इजरायल व हमास के युद्ध का विराम, ऐलान किया 

अखिलेश पांडेय 
जेरूसलम। इजरायल और हमास के बीच चल रही जंग को रुकवाने के लिए कतर की ओर से की गई कवायद आखिर अपना असर दिखा गई है। कतर के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए इजरायल और हमास के भी चल रहे युद्ध के विराम का ऐलान किया है। युद्ध विराम की अवधि कब से लागू होगी, इसकी घोषणा अगले 24 घंटे के भीतर की जाएगी। युद्ध विराम की अवधि चार दिन रहने की उम्मीद जताई जा रही है। बुधवार को इजरायल की संसद की ओर से हमास के साथ पिछले कई दिन से कतर की पहल पर चल रही युद्ध विराम की डील पर अपनी मोहर लगा दी गई है। टाइम्स आफ इजरायल के मुताबिक संसद के भीतर 50 बंधकों के बदले चार दिन के सीज फायर के प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया है। इसराइली सरकार के अफसरों की ओर से बताया गया है कि चार दिन के युद्ध विराम के भीतर हमास द्वारा जिन बंधकों को छोड़ा जाएगा, उनमें ज्यादातर महिलाएं एवं बच्चे शामिल होंगे। 
इन्हें हर दिन 10- 12 बंधकों के ग्रुप में आजाद किया जाएगा। हर 10 बंधकों के ग्रुप की रिहाई के बदले इजरायल 1 दिन का चीज फायर करेगा। इस बीच संभावना जताई गई है कि कतार के प्रयासों से अंजाम दिए गए युद्ध विराम को आगे भी विस्तार दिया जा सकता है। इजरायल की जेल में बंद फिलिस्तीन महिलाओं एवं बच्चों को मुक्त कराए जाने के बदले में हमास को भी इजरायली आम नागरिकों की रिहाई करनी होगी।

अंडर-19 विश्व कप की मेजबानी अफ्रीका को सौंपी

अंडर-19 विश्व कप की मेजबानी अफ्रीका को सौंपी 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के खिलाफ आईसीसी ने एक बड़ा एक्शन लिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आगामी अंडर-10 विश्व कप की मेजबानी उससे वापस ले ली है। 10 नवंबर को आईसीसी ने श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड पर प्रतिबंध लगा दिया था। अब अंडर-19 विश्व कप की मेजबानी दक्षिण अफ्रीका को सौंप दी है। श्रीलंका क्रिकेट में प्रशासनिक अनिश्चितता को देखते हुए आईसीसी बोर्ड ने यह फैसला लिया है। अहमदाबाद में हुई बैठक में इस बारे में फैसला लिया गया।
रिपोर्ट्स के मुताबिक, काफी विचार-विमर्श के बाद आईसीसी ने श्रीलंका क्रिकेट को निलंबित करने के निर्णय को बरकरार रखने का फैसला किया है। बोर्ड ने कहा कि श्रीलंका टीम से जुड़ा क्रिकेट निर्बाध रूप से जारी रहेगा, लेकिन निलंबन को रद्द नहीं किया जाएगा।
अंडर-19 विश्व कप का आयोजन श्रीलंका में 14 जनवरी से 15 फरवरी के बीच होने वाला था। आईसीसी ने दक्षिण अफ्रीका को मेजबानी तो सौंपी है, लेकिन उसने तारीखों में बदलाव नहीं किया है। दक्षिण अफ्रीका में 10 जनवरी से 10 फरवरी एसए टी20 टूर्नामेंट का आयोजन भी होना है।
आईसीसी ने नए मेजबान के लिए ओमान और यूएई के नाम पर भी विचार किया, लेकिन बेहतर बुनियादी ढांचे के कारण दक्षिण अफ्रीका को मेजबानी सौंपी। टूर्नामेंट के लिए कम से कम तीन मैदानों की आवश्यकता होती है, लेकिन ओमान के पास एक ही है। वहीं, यूएई में टूर्नामेंट का आयोजन कर काफी महंगा होता। इस कारण आईसीसी ने अफ्रीकी देश को चुना।
जिम्बाब्वे क्रिकेट को 2019 में सरकारी हस्तक्षेप के कारण निलंबित किए जाने के बाद पिछले चार वर्षों में एसएलसी आईसीसी द्वारा निलंबित किया जाने वाला दूसरा पूर्ण सदस्य है। हालांकि, जिम्बाब्वे में सभी क्रिकेट गतिविधियों को अचानक बंद कर दिया गया था। इसके अलावा फंडिंग पर भी रोक लगा दी गई थी। बाद में जिम्बाब्वे क्रिकेट को बहाल कर दिया गया था। आईसीसी श्रीलंका के मामले में सावधानी से कदम उठाएगी।

ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना हुआ 81 सैनिकों का दल

ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना हुआ 81 सैनिकों का दल

अकांशु उपाध्याय/सुनील श्रीवास्तव 
नई दिल्ली/सिडनी। भारतीय सेना के 81 सैनिकों का दल दूसरे संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘ऑस्ट्रेलियाहिंद-23’ में भाग लेने के लिए आज ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना हुआ। यह अभ्यास छह दिसंबर तक ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में किया जायेगा। इस दल में गोरखा राइफल्स 60 नौसेना का एक और वायु सेना के 20 सैनिक शामिल हैं। आस्ट्रेलियाई सेना की 13वीं ब्रिगेड के 60 जबकि ऑस्ट्रेलियाई नौसेना और वायु सेना के 20-20 सैनिक भी सैन्य अभ्यास में हिस्सा लेंगे। 
दोनों देशों की सेनाओं के बीच ऑस्ट्रेलियाहिंद अभ्यास पहली बार वर्ष 2022 में राजस्थान में महाजन रेंज में आयोजित किया गया था। इसे दोनों देशों के बीच एक वार्षिक प्रशिक्षण कार्यक्रम बनाने की योजना है। अभ्यास का उद्देश्य सहयोग आधारित साझेदारी को बढ़ावा देना और दोनों पक्षों के बीच सर्वोत्तम तरीकों को साझा करना है।
यह शांति स्थापना अभियानों पर संयुक्त राष्ट्र के अध्याय सात के तहत शहरी और अर्ध-शहरी इलाकों में विभिन्न क्षेत्रों में परस्पर संचालन और तालमेल को बढ़ावा देगा। संयुक्त अभ्यास से विचारों के आदान-प्रदान को बढ़ावा मिलेगा और सामरिक संचालन के लिए रणनीति, तकनीक और प्रक्रियाओं के अभ्यास का अवसर प्रदान करेगा। इसके अलावा इससे दोनों सेनाओं के बीच परस्पर समझ को बढ़ावा देने और रक्षा सहयोग को और मजबूत करने में भी मदद करेगा।

उठक-बैठक लगाने से बहाल हुए छात्र की मौत

उठक-बैठक लगाने से बहाल हुए छात्र की मौत 

इकबाल अंसारी 
भुवनेश्वर। दोस्तों के साथ स्कूल की छत पर जाने की सजा के तौर पर टीचर द्वारा उठक-बैठक लगवाने से बहाल हुए छात्र की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई है। पुलिस का कहना है कि चौथी के छात्र की मौत के कारणों का पता लगाया जा रहा है। बुधवार को उड़ीसा के जाजपुर जिले के ओरली गांव के रहने वाले चौथी कक्षा के छात्र की इलाज के दौरान मौत हो गई है।  छात्र के पिता नित्यानंद सेठी 
ने आरोप लगाया है कि 21 नवंबर की दोपहर को उनका बेटा सूर्य नारायण अपने तीन दोस्तों के साथ नोडल स्कूल की छत पर चढ़ गया था। टीचर को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने बच्चों को दी गई सजा के रूप में उनसे 20 बार उठक बैठक लगवाई। आरोप है कि इस दौरान चौथी कक्षा का छात्र दो बार लड़खड़ाकर नीचे गिर गया था। हालत बिगड़ने पर बालक को पहले मधुबन अस्पताल में ले जाया गया था, जहां से उसे कटक के मेडिकल कॉलेज में रेफर कर दिया गया था। लेकिन बुधवार की सवेरे चिकित्सकों द्वारा बालक को मृत घोषित कर दिया गया है। 
हालांकि बालक की मौत के सही कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है, लेकिन मृतक बालक के परिवार के लोगों का आरोप है कि उनके बच्चे की मौत टीचर द्वारा लगवाई गई उठक-बैठक की वजह से हुई है।

सीएम धामी ने पीएम मोदी से फोन पर बात की

सीएम धामी ने पीएम मोदी से फोन पर बात की

पंकज कपूर 
देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात की और उन्हें सिल्कयार सुरंग में चल रहे बचाव कार्यों के बारे में जानकारी दी, जहां 40 कर्मचारी फंसे हुए हैं।
12 नवंबर को एक निर्माणाधीन सुरंग का एक हिस्सा ढह जाने के बाद मजदूर उसमें 11 दिनों से फंसे हैं। सीएम धामी ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज फोन पर बात की और सिल्क्यारा में निर्माणाधीन सुरंग में फंसे श्रमिकों को भोजन, दवाएं और अन्य आवश्यक सामान उपलब्ध कराने के लिए चल रहे बचाव कार्यों के बारे में जानकारी ली। सीएम धामी ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री को केंद्रीय एजेंसियों, अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों और राज्य प्रशासन के बीच आपसी सहमति से चलाए गए बचाव कार्यों के बारे में जानकारी दी।
सीएम धामी ने कहा, इस दौरान उन्हें पिछले 24 घंटों में हुई सकारात्मक प्रगति और श्रमिकों और उनके परिवारों के बीच बातचीत से बढ़े मनोबल के बारे में भी जानकारी दी गई। इस कठिन परिस्थिति से निपटने के लिए हमें पीएम से लगातार मार्गदर्शन मिल रहा है, जिससे श्रमिक भाइयों को पूरी ताकत के साथ जल्दी और सुरक्षित बाहर निकालने के लिए हम सभी को हर दिन नई ऊर्जा मिलती है।

कांग्रेस के हर झूठे वादे पर, मोदी की गारंटी भारी

कांग्रेस के हर झूठे वादे पर, मोदी की गारंटी भारी

नरेश राघानी 
जयपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सत्तारूढ़ कांग्रेस द्वारा दी जा रही गारंटियों पर कटाक्ष करते हुए बुधवार को कहा कि 'कांग्रेस के हर झूठे वादे पर, मोदी की गारंटी भारी है।' उन्होंने कहा कि जहां कांग्रेस से उम्मीद खत्म होती है, वहां से मोदी की गारंटी शुरू होती है।
इसके साथ ही मोदी ने आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत का विश्वास जताते हुए कहा कि राजस्थान में अब कभी भी अशोक गहलोत की सरकार नहीं बनेगी। मोदी सागवाड़ा (डूंगरपुर) में जनसभा को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा, ‘‘मोदी की गारंटी कांग्रेस के हर झूठे वादों पर भारी है। गरीब कल्याण, जनकल्याण को लेकर जहां कांग्रेस से उम्मीद खत्म होती है, वहां से मोदी की गारंटी शुरू होती है। कांग्रेस ने दशकों के अपने शासनकाल में जो सोचा तक नहीं, वह सब बीते 10 साल में आपके सेवक ने देशवासियों के चरणों में समर्पित कर दिया।
’’ मोदी ने कहा, ‘‘आज मैं मावजी महाराज जी का आशीर्वाद लेते हुए एक भविष्यवाणी करने की हिम्मत कर रहा हूं। इस पवित्र धरती की ताकत है कि मेरे मन में यह विचार आया है और मैं मावजी महाराज से क्षमा मांग कर यह बोलने की हिम्मत कर रहा हूं... पूरे राजस्थान के लोग लिखकर रख लें... इस बार तो नहीं ... अब राजस्थान में कभी भी अशोक गहलोत की सरकार नहीं बनेगी। कभी भी नहीं।

यह मावजी महाराज की धरती से बोले गए शब्द हैं।’’ उन्होंने लोगों से कहा, ‘‘लोकतंत्र ने आपको कुशासन वाली इस कांग्रेस सरकार को बदलने का मौका दिया है। इस मौके को हाथ से जाने नहीं देना है।’’ मोदी ने कहा, ‘‘कांग्रेस का सूपड़ा साफ करो... राजस्थान को दंगों, अपराधों, बहनों-बेटियों पर अत्याचार और भ्रष्टाचार से मुक्त करो।
राजस्थान से कांग्रेस सरकार की विदाई इसलिए भी जरूरी है ताकि यहां केन्द्र सरकार की हर योजना तेजी से लागू हो।’’ मोदी ने कहा, ‘‘कांग्रेस सरकार ने राजस्थान में हर सरकारी भर्ती में घोटाला किया है। कांग्रेस के पाले हुए पेपर लीक माफिया ने राजस्थान के युवाओं का भविष्य बर्बाद कर दिया है।
’’ राज्य में विधानसभा चुनाव के लिए 25 नवंबर को मतदान होना है जबकि वोटों की गिनती तीन दिसंबर को होगी। प्रदेश में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में सात गारंटियों को शामिल किया है। इनमें परिवार की महिला मुखिया को 10,000 रुपये का वार्षिक सम्मान, 1.05 करोड़ परिवारों के लिए 500 से रुपए में रसोई गैस सिलेंडर, पशुपालकों से 2 रुपये प्रति किलो की दर से गोबर की खरीद, सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना (ओपीएस) का कानून लाना शामिल है।

दुष्कर्म: मौलवी को आजीवन कारावास की सजा

दुष्कर्म: मौलवी को आजीवन कारावास की सजा

भानु प्रताप उपाध्याय 
मुजफ्फरनगर। यूपी के मुजफ्फरनगर आठ साल की बच्ची से दुष्कर्म के मामले में पॉक्सो एक्ट कोर्ट ने सुनवाई करते हुए मदरसे के मौलवी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने अभियुक्त पर 50 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है। अर्थदंड की रकम पीड़ित परिवार को देने के आदेश दिए हैं।
विशेष लोक अभियोजक दिनेश कुमार शर्मा और मनमोहन वर्मा ने बताया कि 23 सितंबर 2023 को बुढ़ाना थाना क्षेत्र के एक गांव में आठ साल की बच्ची मदरसे में पढ़ने के लिए गई थी। आरोप था कि मदरसे के मौलवी इरफान पुत्र कालू निवासी बवाना ने बच्ची को कमरे में झाडू लगाने के बहाने बुलाया और उसके साथ दुष्कर्म किया, जिससे बच्ची की हालत बिगड़ गई।
सहारनपुर में दहेज के लिए विवाहिता को जिंदा जलाने में अदालत ने सास को उम्रकैद की सजा सुनाई। साथ ही 55 हजार रुपये का अर्थदंड लगाया। मृतका के पति और ससुर की मामले के विचारण के दौरान ही मौत हो चुकी है। अभियोजन पक्ष के मुताबिक, जून 2013 में थाना मंडी में एक मुकदमा दर्ज किया गया था। वादी मुकदमा मौ. आबिद निवासी सरूलपुर का कहना था कि उसकी बेटी रेशमा प्रवीन का विवाह मुस्तकीम के साथ 2004 में हुआ था। उसी समय से लगातार दहेज की मांग की जा रही थी। 17 जून 2013 को सूचना मिली की रेशमा ने आग लगाकर हत्या कर दी। पुलिस ने पति मुस्तकीम, ससुर अख्तर और सास हमीदा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। सहायक शासकीय अधिवक्ता नीरज चौहान ने बताया कि मामले की सुनवाई एडीजे कक्ष-7 की अदालत में हुई।

जहां मर्द माप लेते हों, कपड़े सिलवाना हराम है

जहां मर्द माप लेते हों, कपड़े सिलवाना हराम है 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। देवबंदी उलेमा मुफ्ती असद कासमी ने कपड़े सिलवाने को लेकर एक तालिबानी फरमान जारी किया है। अपने नए बयान में कासमी बताया कि मुस्लिम महिलाओं को अपने कपड़े कैसे सिलवाने चाहिए ? कासमी ने कहा कि जहां मर्द माप लेते हों, वहां मुस्लिम महिलाओं को कपड़े सिलवाना हराम है। 
कासमी ने अपने बयान में कहा कि आखिर मुस्लिम महिलाएं अपने कपड़े कैसे सिलवा सकती है। अपने बयान में कासमी ने कहा कि एक महिला माप के लिए अपने कपड़े किसी पुरुष दर्जी को भेजकर सिलवा सकती है, लेकिन अगर दर्जी खुद उसका माप लेता है और फिर कपड़े सिलता है, तो यह ‘हराम’ है। उन्होंने कहा कि अगर महिला अपने कपड़े माप के लिए भेजती है तो यह वैध है अन्यथा नहीं।
मुफ्ती असद कासमी ने कहा, ”इस सिलसिले में मैं कहूंगा कि इसमें दो बातें हैं. जब एक मुस्लिम महिला किसी पुरुष दर्जी से अपने कपड़े सिलवाती है तो इसके दो पहलू होते हैं। एक तो यह कि वह अपना परिधान माप के लिए एक दर्जी को देती है। दूसरी स्थिति यह है कि पुरुष स्वयं उसका माप लेता है तो इस स्थिति में शरीयत ने इसे नाजायज और हराम करार दिया है। हालांकि, अगर उसके पहले से सिले हुआ कपड़ों का उपयोग करके माप लिया जाए तो कपड़े सिले जा सकते हैं।”
इसके पहले अपने बयान में उलेमा मुफ्ती असद कासमी ने कहा था कि जिस ब्यूटी पार्लर में मर्द काम करते हों वहां महिलाओं को नहीं जाना चाहिए। कासमी ने बयान जारी करते हुए मुस्लिम महिलाओं को ऐसे ब्यूटी पार्लर में न जाने की नसीहत दे डाली, जहां पुरुष काम करते हैं। असद कासमी ने कहा था कि पुरुष जहां काम करते हैं ऐसे ब्यूटी पार्लर में मुस्लिम महिलाओं को नहीं जाना जाता है। ऐसे ब्यूटी पार्लर में जाना नाजायज है, हराम है। अलबत्ता, जहां लड़कियां काम कर रही हैं ऐसे ब्यूटी पार्लर में महिलाएं जा सकती हैं।

सड़क हादसा, टैंकर से कुचलकर महिला की मौत

सड़क हादसा, टैंकर से कुचलकर महिला की मौत

संदीप मिश्र 
लखनऊ। राजधानी के हजरतगंज इलाके में एक दर्दनाक सड़क हादसे में टैंकर से कुचलकर बुजुर्ग महिला की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि महिला अपनी बेटी के साथ स्कूटी पर सवार थी। मल्टीलेवल पार्किंग के पास उसे नगर निगम के टैंकर ने टक्कर मार दी। हजरतगंज इंस्पेक्टर विक्रम सिंह ने बताया कि मृतका ठाकुरगंज के हुसैनाबाद इलाके में में रहने वाली राहिला खान (60) थीं।
मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को राहिला स्कूटी पर पीछे बैठकर अपनी बेटी के साथ जा रही थीं। मल्टी लेवल पार्किंग के पास नगर निगम के टैंकर को ओवरटेक करते समय स्कूटी टैंकर से टकरा गई। सड़क पर छिटककर गिरी महिला के ऊपर टैंकर का पहिया चढ़ गया। हादसे के बाद टैंकर चालक गाड़ी लेकर भाग निकला। पुलिस राहिला को सिविल अस्पताल लेकर पहुंची, जहां डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया।

खुदाई करते समय जमीन धंसने से मजदूर की मौत

खुदाई करते समय जमीन धंसने से मजदूर की मौत 

मनोज सिंह ठाकुर 
टीकमगढ़। निर्माणाधीन नाले की खुदाई करते समय जमीन धंसने से मलबे के नीचे दबे मजदूर की मौत हो गई है। गहरा करने के लिए की जा रही नाले की खुदाई के दौरान मिट्टी धंसने की वजह से कार भी पलट गई है। मजदूर की मौत से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। बुधवार को टीकमगढ़ के बल्देवगढ़ में निर्माणाधीन नाले को गहरा करने के लिए मजदूर खुदाई करने में लगे हुए थे। इसी दौरान खुदाई करते समय मिट्टी की ढांग एक मजदूर के ऊपर गिर गई। 
जिसके चलते वह मजदूर ढांग के मलबे के नीचे दब गया। हादसा होते ही मौके पर बुरी तरह से अफरा तफरी मच गई।  आसपास के लोग पुलिस और प्रशासन को सूचना देते हुए मलबे के नीचे दबे मजदूर को बाहर निकालने में लग गए। इसी दौरान घटनास्थल के पास से होकर गुजर रही कार जैसे ही नाले की मिट्टी धंसी वैसे ही वह भी उसके ऊपर से गुजरते समय नाले में पलट गई। दोहरे हादसे से काफी देर तक मौके पर अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। इस बीच मलबे को हटाकर बाहर निकाले गए मजदूर की मौत हो चुकी थी। हादसे की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने मलबे में दब कर मरे मजदूर के शव को कब्जे में लेकर भेज दिया है। उधर मिट्टी धंसने से नाले में गिरी कर को क्रेन की सहायता से बाहर निकलवाया गया है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

1. अंक-33, (वर्ष-11)

पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. बृहस्पतिवार, नवंबर 23, 2023

3. शक-1945, कार्तिक, शुक्ल-पक्ष, तिथि-एकादशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:36, सूर्यास्त: 05:18।

5. न्‍यूनतम तापमान- 16 डी.सै., अधिकतम- 22+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बीएएलएलबी-एलएलएम का कोर्स हिंदी में शुरू करें

बीएएलएलबी-एलएलएम का कोर्स हिंदी में शुरू करें  संदीप मिश्र  लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने कहा कि बीएएलएल...