रविवार, 31 जनवरी 2021

अमेरिका की चीन को सैन्य गतिविधियों पर फटकार

वाशिंगटन डीसी/ बीजिंग। विवादित दक्षिण चीन सागर में सैन्य गतिविधियों के लिए अमेरिका ने चीन को फटकार लगाई और कहा है कि उसका यह कदम क्षेत्र को अस्थिर करने वाला है। उसने कहा है कि चीन की कार्रवाइयां दर्शाती हैं कि वह सेना का इस्तेमाल अंतरराष्ट्रीय जल और वायु क्षेत्र में काम करने वालों को डराने या धमकाने के लिए करता है। अमेरिका की हिंद-प्रशांत कमांड (इंडोपाकॉम) ने कहा कि दक्षिण चीन सागर में पिछले एक सप्ताह में चीनी सैन्य उड़ानें क्षेत्र में अमेरिकी नौसेना के विमान वाहक स्ट्राइक समूह के लिए किसी भी तरह का खतरा पैदा करती रही हैं। इंडोपाकॉम के प्रवक्ता अमेरिकी नौसेना के कप्तान माइक काफ्का ने बताया कि थियोडोर रूजवेल्ट कैरियर स्ट्राइक ग्रुप ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी (पीएलएएन) और वायुसेना (पीएलएएएफ) गतिविधियों की बारीकी से निगरानी की।

आपत्ति: सरकार के साथ बैठ कर समाधान करें

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी
हापुड़। प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने कहा कि कृषि बिल किसानों के लिए हितकर है। यदि किसी बिंदु पर उन्हें आपत्ति हैं, तो वे सरकार के साथ बैठक कर उनका समाधान कर सकतें हैं। किसानों के साथ बातचीत के रास्ते खुलें हैं। कृषि मंत्री शाही हापुड़ में एक कार्यक्रम भाग लेने आए से पूर्व सर्किट हाउस में हापुड़ के स्थानीय भाजपा कार्यकर्ता एवं पदाधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से पंचायत चुनाव में जुट जानें का आग्रह किया। इस मोकें पर उत्तर प्रदेश सफाई कर्मचारी आयोग के सदस्य मनोज बाल्मीकि , विधायक विजयपाल, विधायक सत्यवीर त्यागी, भाजपा जिला अध्यक्ष उमेश राणा ,राकेश त्यागी , अंबुज त्यागी सुधीर गोयल, सुमन प्रकाश त्यागी आदि उपस्थित थे। पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।

पल्स पोलियो के समूल विनाश हेतु अभियान जारी

पंकज कुमार  
एटा। जनपद में पल्स पोलियो के समूल विनाश हेतु 31 जनवरी रविवार को एक बार पुनः जन्म से लेकर पांच वर्ष तक के सभी बच्चों को पोलियो की दवा पिलाने का अभियान बड़े ही जोर शोर, उत्साह के साथ सम्पूर्ण जिले में चलाया गया। इस अवसर पर जिलेभर में बूथों पर जीरो से पांच वर्ष के तक के बच्चों को पोलियो की दवा पिलाकर पोलियो से पूर्ण सुरक्षा प्रदान करने का प्रयास किया गया। जिलाधिकारी सुखलाल भारती ने इस दौरान पोलियो अभियान के सफल क्रियान्वन हेतु अभियान से जुड़े सभी अधिकारियों, कर्मचारियों को अपने दायित्वों का पूर्ण निष्ठा के साथ निर्वहन करने की हिदायत दी। पोलियो अभियान को इस बार जनसहभागिता के माध्यम से सफल बनाया जाएं। जिलाधिकारी ने इस दौरान जीटी रोड स्थित मंडी समिति स्वास्थ्य केन्द्र पर बनाये गए पोलियो बूथ पर पहुंचकर विधिवत फीता काटकर, नौनिहालों को पोलियो खुराक पिलाकर अभियान का शुभारंभ किया। तदोपरान्त सीएमओ डॉ. अरविंद कुमार गर्ग ने प्रेमनारायण सक्सैना के मेहता पार्क रोड स्थित आवास पर बने बूथ का फीता काटने के साथ ही बच्चों को पोलियो खुराक पिलाई। सीएमओ के अलावा एसीएमओ डॉ. राम सिंह, आलोक वर्मा आदि ने भी बच्चों को पोलियो दवा पिलाई। डीएम ने इस अवसर पर निर्देश दिए कि जिले के सभी बूथों पर शतप्रतिशत बच्चों को पोलियो दवा पिलाई जाए। अभियान की मॉनीटरिंग हेतु जो भी टीमें लगाई गई है। उनके द्वारा नियमित भृमण कर समीक्षा की जाए। इस अवसर पर सीएमओ डॉ. अरविंद कुमार गर्ग, एसीएमओ डॉ. राम सिंह, एमओआईसी ऋषभ सक्सेना, डीपीओ संजय सिंह, सीडीपीओ एसपी पांडेय, डब्ल्यूएचओ एसएमओ डॉ. रंजीता रानी, आलोक वर्मा, रवींद्र सहाय, शिप्रा जौहरी, सुधीर सक्सेना, रवीश सक्सेना, कल्पना सक्सेना, इंद्रा सहाय, प्रदीप बिसारिया, आलोक जौहरी, दीनेस्वर सहाय, मयूर सक्सेना, अनिल सक्सेना, कुलदीप, रामचंद्र आदि मौजूद थे।

जनपद में कई जगह अवैध खनन लगातार जारी हैं

गोंडा। जनपद के इटियाथोक थाना क्षेत्र कई जगह अवैध मिट्टी खनन लगातार जारी है। खनन करने वाले मिट्टी का खनन कर ऊंचे दामों पर बेचकर मालामाल हो रहे हैं। जिसके कारण राजस्व का चूना लग रहा है। वहीं जगह-जगह जमीनों में गड्ढे हो रहे हैं। जिसके कारण जमीनों के धंसने का खतरा बना रहता है। जिसकी एक बानगी पडरीपारा सराय मे दिखाई दी। जहां पर बेखौफ होकर ट्रालियों में भर भर कर मिट्टी ले जाई जा रही है। ना तो उस पर प्रशासन का कोई रोक है ना ही कोई डर उन्होंने प्रशासन से कोई अनुमति भी नहीं ली लगातार जमीनों से मिट्टी निकाल कर वहां की जमीनों में गड्ढे कर रहे हैं। जिसके कारण आसपास जमीन धंसने का खतरा लगातार मडरा रहा है। कभी भी कोई भी घटना घट सकती है लोगों का कहना है कि प्रशासन ने मिट्टी पर रोक नहीं लगाई है। लेकिन प्रशासन का आदेश है कि जमीन उबड़ खाबड़ है। तो समतलीकरण के लिए मिट्टी निकाली जा सकती है। वह भी अपनी जरूरत के लिए ना कि लगातार मिट्टी निकाल कर जमीन को गड्ढा कर उसे ऊंचे दामों पर बेचने के लिए प्रशासन ने आदेश दे रखा है। इस बारे में जब खनन अधिकारी से बात करने का प्रयास किया गया उनका नंबर नहीं लगा । यहां एक विचारणीय प्रश्न है। कि किसके आदेश से लगातार अवैध खनन किया जा रहा है। अब देखना दिलचस्प है गोंडा जनपद के नए तेजतर्रार जिला अधिकारी अवैध खनन वालों पर क्या कार्यवाही करते हैं? यह तो आने वाला समय तय करेगा।

ईओ-चैयरमैन में घमासान, गंभीर आरोप लगायें

अश्वनी उपाध्याय   

गाजियाबाद। इन दिनों खोड़ा नगर पालिका चेयरमैन एवं अधिशासी अधिकारी (ईओ) के बीच घमासान मचा हुआ है। दोनों एक-दूसरे पर गंभीर आरोप लगा रहें हैं। दरअसल मुरादनगर श्मशान घाट हादसे में जहां ईओ जेल के सलाखों के पीछे हैं। वहीं पालिका के चेयरमैन अभी तक साफ बचे हुए हैं। जबकि नगर पालिका के हर कामों के लिए अब तक ईओ और चेयरमैन को बराबर का जिम्मेवार माना जाता रहा है। इस प्रकरण को देखते हुए नगर पालिका के ईओ अब अधिक सचेत हो गये हैं और चेयरमैन की हर बातों को मानने से गुरेज कर रहे हैं। ईओ को यह डर सता रहा है कि किसी तरह की गलती होने पर वह बलि का बकरा न बन जाए। ठेकेदारों के कामकाज की निगरानी और सख्ती भी बढ़ा दी गई हैं। खोड़ा नगर पालिका से जुड़े सूत्र बताते हैं कि यहां भी इसी सख्ती के कारण विवाद बढ़ा है। उधर, खोड़ा नगर पालिका चेयरमैन रीना भाटी के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए अधिशासी अधिकारी केके भड़ाना ने सिलसिलेवार ढंग से जबाव दिया है। उन्होंने खुद पर लगाए गए आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। केके भड़ाना का कहना है कि वह शासन के प्रति जबावदेह हैं। जो अधिकार उन्हें मिल हैं, उसी के तहत काम कर रहे हैं। अधिशासी अधिकारी का कहना है कि पालिका परिषद में 12 कर्मचारी आउट सोर्सिंग पर तैनात किए गए थे। शिकायत मिलने पर उनके कार्यों की जांच कराई गई। जांच में मालूम पड़ा कि सभी कर्मचारी घर बैठे हैं। वह फील्ड में काम नहीं कर रहे हैं। इसके बाद आउट सोर्सिंग कंपनी ने संबंधित कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की है। केके भड़ाना का कहना है कि चेयरमैन की तरफ से अनावश्यक दबाव बनाया जा रहा है। वह पालिका के अधिकारियों एवं कर्मचारियों पर मनमाने तरीके से दबाव बनाने की कोशिश करती हैं। इससे विभागीय काम-काज प्रभावित होता है। उन्होंने कहा कि चेयरमैन पालिका परिषद की बोर्ड की अध्यक्ष होने के नाते बोर्ड में फैसले लेने के लिए स्वतंत्र हैं। मगर बोर्ड में लिए गए निर्णयों का सही एवं नियमानुसार पालन कराने के लिए ईओ की जवाबदेही आती है। सारी स्थिति से शासन को भी अवगत कराया जा चुका है। ईओ ने चेयरमैन पर हर ठेका देने के बदले कमीशन मांगने का भी गंभीर आरोप लगाया है। ज्ञात हो कि पूर्व में ईओ ने खोड़ा थाने में चेयरमैन समेत दो लोगों के खिलाफ खोड़ा थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। इसके चलते ही उन पर दबाव बनाने के लिए चेयरमैन षडयंत्र रच रही हैं। चेयरमैन हर ठेके में कमीशन मांगती हैं, न देने पर कंपनी को ब्लैकलिस्ट करने की धमकी देती हैं। कंपनी संचालक ने भी चेयरमैन की शिकायत की है। उधर तीन दिन पूर्व चेयरमैन रीना भाटी ने भी मुख्यमंत्री, सांसद वीके सिंह, विधायक सुनील शर्मा, जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय समेत अन्य अधिकारियों व नेताओं को पत्र भेजकर ईओ के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की थी।

ब्राह्मणो ने की साजिश और सरपरस्त महात्मा गांधी

मेरठ। किसानों का आंदोलन हो शेड्यूल कास्ट का या अनुसूचित जाति का या पिछड़ी जाति का हमेशा से ब्राह्मणों ने अपनी मुराद परस्ती के लिए सर्व समाज का ही नहीं। भारतीय संविधान का नुकसान किया है और किसी को आगे नहीं बढ़ने दिया है। मुस्लिम हमेशा से भारत देश का वफादार मूल निवासी है और मजदूरों का गरीबों का किसानों का हमदर्द रहा है। हिंदू मुस्लिम की भावना और विद्वेष आपसी लड़ाई झगड़े हमेशा ब्राह्मणों ने कराए हैं। भारत के टुकड़े कराने में भी ब्राह्मणों की साजिश है और इनका सरपरस्त महात्मा गांधी थे।
इंडियन मेडिकल प्रोफेशनल एसोसिएशन मूलनिवासी महापुरुषों की सामूहिक जन्म जयंती मनाने की तैयारी के अंतर्गत युवा मंडल स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन अपार चेंबर जिमखाना मैदान के सामने बुढ़ाना गेट मेरठ में आयोजित हुआ। जिस के मुख्य अतिथि डॉक्टर यामीन अंसारी और अध्यक्षता डॉक्टर जितेंद्र कुमार नाग केंद्रीय पर्यवेक्षक इंपा नई दिल्ली ने की और संचालन दिनेश कुमार ने किया। जिसमें विशिष्ट अतिथि डॉक्टर सुबोध कुमार डॉक्टर अयूब अली डॉ. प्रमोद कुमार वर्मा, डॉक्टर भारती बिरला, डॉक्टर नरेंद्र कुमार पाल, डॉक्टर मदन लाल, अयूब अली, डॉ. कल्पना सिंह, डॉ. मंजू रानी, एडवोकेट मुकेश कुमार, डॉ. प्रियंका दीपांकर डॉक्टर हितेश कुमार, डॉक्टर सूरज पाल सिंह, डॉक्टर राजेश दौराला, डॉक्टर ओमपाल, डॉ. एस पी सिंह, डॉक्टर इरशाद आदि रहे। कार्यक्रम का संयोजन डॉक्टर इरशाद अली, डॉक्टर फारुख हुसैन, डॉक्टर दुष्यंत कुमार, डॉ. हरिओम सिंह, डॉक्टर मस्जिद आदि रहे। बामसेफ के आप सूट संगठन इंडियन मेडिकल प्रोफेशनल एसोसिएशन के अध्यक्षता में अपने वक्तव्य में डॉ. जितेंद्र नाथ ने कहा कि स्थिति और आजादी के वक्त में ब्राह्मणों ने हमेशा ओबीसी एससी एसटी कन्वर्टेड माइनॉरिटी मुस्लिम का हमेशा शोषण किया है और आज भी कर रहा है। ब्राह्मण व्यवस्था ने भारतीय संविधान को बनते ही 15 दिन बाद प्रतियां जलाई थी और आज भी गणतंत्र दिवस पर काला दिवस मनाता है। इसका हमेशा r.s.s. ही दुश्मन रहा कि कोई भी ऊपर ना उठ जाए आज किसान आंदोलन करोड़ों की संख्या में लेकिन ईवीएम के भरोसे होते हुए यह सरकार किसी गरीब मजलूम मजदूर किसान की नहीं सुन रही है। केवल अपनी मनमानी कर रही है और किसानों के बेटे जवानों को आपस में लड़ जा रही है। आने वाले वक्त में यह सरकार ओबीसी sc-st माइनॉरिटी को हमेशा हिंदू मुस्लिम के झगड़े कराकर कटवाने की बात करती है। लेकिन 42 साल से बामसेफ के कार्यकाल की मेहनत रंग ला रही है कि आज हिंदू मुस्लिम के झगड़े कराने में ब्राह्मण नाकाम हो रहे हैं। लेकिन अपनी साजिश से बराबर रख रहे हैं और विधायिका कार्यपालिका न्यायपालिका मीडिया सभी पर कब्जा जमाए हुए हैं। यह हमें समझना होगा कि देश का दुश्मन आर एस एस और उसके संगठन मात्र हैं। जिसका सर्वोपरि संचालन ब्राह्मण के हाथ होता है और आज समाज में जो आरक्षित सीटों से चुनकर विधायक और सांसद बन कर अपना नेतृत्व करने की झांक दिखाते हैं। वह केवल ब्राह्मणों के गुलाम का काम कर रहे हैं। हमें इस से उतरना होगा। अन्यथा आने वाला कल और भी बुरा साबित होगा। कार्यक्रम में डॉक्टर सूरज पाल सिंह, डॉक्टर साहब, डॉक्टर मस्जिद, डॉक्टर पूजा प्रमोद सिद्धार्थ, हरीश गौतम, ओमपाल सिंह, राहुल कुमार आदि ने भी विचार रखे। कार्यक्रम में डॉक्टर रितेश कुमार, चरण सिंह, प्रियंका दीपांकर, वीपी सिंह, धर्मेंद्र कुमार, महेश सिंह, राम सिंगार, प्रमोद सिद्धार्थ, देव कुमार, हरीश गौतम, दिनेश कुमार, संजय कुमार, एडवोकेट राहुल मनोज कुमार, हैप्पी सिंह, अब्दुल मजीद, इसरार अहमद, यामीन खान, महेंद्र प्रताप, रियाजुद्दीन हकीम अंसारी, लोहिया आदि सैकड़ों डॉक्टरों ने प्रोग्राम में हिस्सा लिया।

यूपी: बहुजन मुक्ति पार्टी विधानसभा चुनाव लड़ेगी

मेरठ। किसान मजदूर मजलूम बहुजन मूलनिवासी विरोधी सरकार के विरुद्ध बहुजन मुक्ति पार्टी उत्तर प्रदेश के 403 समस्त विधानसभाओं पर चुनाव लड़ेगी और बहुजन समाज के उत्थान के लिए हमेशा कार्य करेगी।
मेरठ मंडल स्तरीय बहुजन मुक्ति पार्टी के कार्यकर्ताओं की एक मीटिंग डॉक्टर जाकिर हुसैन कॉलोनी में आयोजित की गई। जिसकी अध्यक्षता उत्तर प्रदेश उपाध्यक्ष एवं पश्चिमांचल जोन प्रभारी एडवोकेट मुकेश कुमार ने की और संचालन मेरठ जिला अध्यक्ष ओमवीर सिंह ने किया। बैठक में किसान मजदूर मजलूम ओबीसी sc-st माइनॉरिटी की विरोधी वर्तमान बीजेपी सरकार के खिलाफ बहुजन मुक्ति पार्टी समस्त उत्तर प्रदेश में प्रत्येक विधानसभाओं पर चुनाव लड़ेगी। बैठक में आर डी गादरे ने मीटिंग में त्रिस्तरीय जिला पंचायतों के चुनाव की समीक्षा की सभी जिलों से जिला पंचायत हेतु प्रत्याशियों की सूची ली गई। प्रत्याशियों के नाम की घोषणा जल्द ही की जाएगी जिले की सभी सीटों पर पार्टी चुनाव लड़ने के निर्देश दिए। जिलों का कार्यक्रम हेतु दौरा अगली निर्धारित तिथि से किया जाएगा। फरवरी 2021 तक वॉल पेंटिंग कराने के भी निर्देश दिए गए। सामान्य सदस्यता अभियान जोरों पर चलाए जाने पर जोर दिया गया। विधानसभा चुनाव उत्तर प्रदेश 2022 को देखते हुए बहुजन मुक्ति पार्टी ने प्रत्येक विधानसभाओं में समस्त कार्यकर्ताओं को लगन और मेहनत से कार्य करने का भी निर्देश दिया। प्रत्येक मंडल मुख्यालय पर पार्टी का कार्यालय बनाया जाएगा। बहुजन मुक्ति पार्टी की परिवर्तन की तैयारी हेतु प्रत्येक विधानसभा में जबरदस्त कार्य किए जाएंगे। जिलों का संगठन भाषा में हेर फेर बदल किया जाएगा। जो निष्क्रिय कार्यकर्ता है। उनको कार्यरत किया जाएगा और पार्टी में योग्य पार्टी प्रवक्ता एवं मीडिया प्रभारी भी सक्रिय रखे जाएंगे। जो निष्क्रिय हैं। उनको तुरंत हटाने के निर्देश दिए गए। आज वर्तमान जनविरोधी सरकार को देखते हुए एडवोकेट मुकेश कुमार ने कहा बहुजन मुक्ति पार्टी लगातार किसान आंदोलन को सहयोग कर रही है और खुल करके भी गरीब मजदूर मजलूम पिछड़ा वर्ग अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति मुस्लिम समुदाय समस्त समानता के धर्मों के मानने वालों पर मेहनत की जा रही है। जो वर्तमान जनविरोधी सरकार जनता में फासीवादी निरंकुशता वाली नीतियों हो जवाब दिया जाएगा और आने वाले वक्त में बहुजन मुक्ति पार्टी की सरकार में जो ईवीएम से बनी हुई सरकार है। उसको हटाने के लिए बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग करते हैं। जिला अध्यक्ष ओमवीर सिंह ने कहा के गांव-गांव में गली-गली घर-घर में लोगों को जन सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी और बढ़ते हुए बिजली के बिल हो या तेल की समस्याएं पेट्रोल डीजल सब पर पैसे घटाए जाएंगे। जो मुनासिब रेट होगा वही दिया जाएगा बागपत जिला अध्यक्ष राम कुमार बौद्ध ने कहा कि वर्तमान सरकार घटिया है।जिसका हल केवल खटिया है। वह चुनाव चिन्ह बहुजन मुक्ति पार्टी का बैठक मे एड मुकेश कुमार आर डी गादरे मोहम्मद फुरकान मलिक, ओमवीर सिंह, सुएब एड, अतर सिंह गुप्ता, एडवोकेट तौफीक हकीमुद्दीन, काज़िम अहमद, रामकुमार बौद्ध, संजय कुमार, महमूद महाराज सैफी, सोहनबीर सिंह आदि ने विचार रखे।

378 कैरेट के टॉप व्हाइट डायमंड को खोज निकाला

गाबारोनी। अफ्रीकी महाद्वीप हीरा, सोना और चांदी की अपनी खदानों के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। आए दिन इस महाद्वीप के अलग-अलग देशों में ऐसी बेशकीमती चीजें मिलती रहती हैं। जिसकी कीमत अरबों में लगाई जाती हैं। हाल में ही कनाडा की एक प्रसिद्ध माइनिंग कंपनी ने अफ्रीकी देश बोत्सवाना के एक खदान से 378 कैरेट के टॉप व्हाइट डायमंड को खोज निकाला है। रिपोर्ट के अनुसार, इस हीरे को 15 जनवरी 2021 को खोजा गया था। बताया जा रहा है कि बोत्सवाना के साउथ लोबे के कारोवे खदान से मिला 200 कैरेट के ऊपर का यह 55वां हीरा है। इस खदान में हीरे की खोज का काम 2012 में शुरू किया गया था। इस खदान को कनाडा की कंपनी लुकारा डायमंड ऑपरेट कर रही है। कंपनी ने बताया कि यह इस साल की 300 से ज्यादा कैरेट का दूसरा हीरा है। इससे पहले भी हम एक और 300 कैरेट के हीरे की खोज कर चुके हैं। इस हीरे की खोज साल 2021 की हमारी मजबूत शुरुआत को दर्शाता है। 378 कैरेट का यह असाधारण और उच्च श्रेणी का चमकदार हीरा अत्याधिक कीमत वाले रत्नों की श्रेणी में शामिल है। बोत्सवाना की अद्भुत हीरे की क्षमता को हम लगातार बढ़ाते रहेंगे। हीरे के जानकारों ने बाजार मे इस 378 कैरेट के टॉप व्हाइट डायमंड की कीमत 110 करोड़ रुपये से ज्यादा बताई है। माना जा रहा है कि बिक्री के दौरान इसकी कीमत इससे भी कहीं ज्यादा हो सकती है। कारोवे खदान बोत्सवाना के शीर्ष हीरा उत्पादकों में गिना जाता है। अब तक हीरे को ही दुनिया की सबसे हार्ड या कठोर चीज मानी जाती है। लेकिन यह सही नहीं है। साल 2009 तक हीरे को दुनिया की सबसे कठोर चीज माना जाता था। लेकिन वैज्ञानिकों ने दो दुर्लभ खनिजों के बारे में पता लगाया है। जो हीरे से भी कठोर होते हैं। वे दो खनिज वुर्टजाइट बोरोन नाइट्राइड और लोन्सडेलीट हैं।

प्रयागराज: 8 सीटों के लिए 112 लोगों ने की दावेदारी

विधानसभा की आठ सीटों के लिए 112 लोगों सपा नेताओं ने की दावेदारी
बृजेश केसरवानी   
प्रयागराज। समाजवादी पार्टी के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ने के इच्छुक नेताओं की सूची लंबी हो गई है। ग्रामीण क्षेत्र की आठ सीटों के लिए 112 लोगों ने दावेदारी की है। प्रतापपुर और फूलपुर सीट के लिए तो 20 से अधिक आवेदन पहुंचे हैं। हालांकि तीनों सुरक्षित सीटों के लिए 10 से भी कम नेताओं ने दावेदारी की है।
सपा में विधानसभा चुनाव के लिए प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया अभी से शुरू हो गई है। इसी क्रम में दावेदारों से आवेदन मांगे गए हैं। जहां पार्टी का विधायक है। उन सीटों के लिए आवेदन नहीं मांगे गए। इस तरह से यहां की करछना विधानसभा सीट के लिए आवेदन नहीं मांगा गया है। आवेदन की आखिरी तारीख 26 जनवरी घोषित की गई थी। उस अवधि तक ग्रामीण क्षेत्र की शेष आठ सीटों के लिए 112 आवेदन आए हैं। हालांकि अब आवेदन की आखिरी तारीख 15 फरवरी तक बढ़ा दी गई है। ऐसे में संख्या में इजाफा होने की उम्मीद है। 26 जनवरी तक हुए आवेदनों के अनुसार प्रतापपुर सीट के लिए सबसे अधिक 26 लोगों ने दावेदारी की है। वहीं फूलपुर के लिए 23 आवेदन पहुंचे हैं। मेजा के लिए 18, हंडिया में 14 तथा फाफामऊ में 11 लोगों ने आवेदन किया है। सुरक्षित सीट सोरांव के लिए सात, बारा में आठ तथा कोरांव विधानसभा सीट के लिए पांच लोगों ने सपा से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है। शहर की तीन विधानसभा के लिए भी अब तक 20 नेताओं ने दावेदारी की है। जिला प्रवक्ता दान बहादुर मधुर का कहना है। कि जिला और महानगर अध्यक्ष के अनुमोदन के बाद सभी के आवेदन लखनऊ चले गए हैं।
दावेदारों में युवा नेता भी पीछे नहीं...
गौर करने वाली बात यह है। कि सपा से टिकट के लिए दावेदारी करने वालों में वरिष्ठ नेताओं के अलावा छात्र राजनीति से आने वाले युवाओं की भी लंबी सूची है। इनमें इलाहाबाद विश्वविद्यालय की पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह के अलावा पूर्व उपाध्यक्ष अदील हमजा, जॉटी यादव, छात्रसभा के जिलाध्यक्ष अखिलेश गुप्ता गुड्डू, पियूष श्रीवास्तव, युवजन सभा के संदीप यादव, रवींद्र यादव आदि शामिल हैं।

सरकार-किसानों के बीच हल निकलने के बनें आसार

राणा ओबराय   

नई दिल्ली। दो माह से ज्यादा समय से किसानों के आंदोलन के बीच सिंघु बॉर्डर पर सुरक्षा पहले से काफी ज्यादा कड़ी कर दी गई है। सरकार और किसान नेताओं के बीच अगले दौर की बातचीत 2 फरवरी को होनी है। वहीं, गाज़ीपुर बॉर्डर दिल्ली उत्तर प्रदेश बॉर्डर पर जारी किसानों का धरना प्रदर्शन 65वें दिन में प्रवेश कर गया है। गाज़ीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसान श्याम ने एक एजेंसी से कहा, “सरकार नए कृषि कानूनों पर कोई निर्णय नहीं ले रही है। सरकार को इन कानूनों को वापस लेना चाहिए। यह सरकार और किसानों दोनों के लिए अच्छा होगा।” गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को सर्वदलीय बैठक के दौरान कहा था कि केंद्र सरकार ने किसान संगठनों को जो प्रस्ताव दिया था, उस पर वह आज भी कायम है और किसान संगठन आगे की वार्ता के लिए आपस में तय करते कभी भी मुझे कॉल कर सकते हैं। मैं एक कॉल पर किसान संगठनों के लिए बैठक की व्यवस्था करवा दूंगा। किसान लगातार कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग पर अड़े हुए हैं। इस दौरान सार्वजनिक सुरक्षा को बनाए रखने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 29 जनवरी की रात 11 बजे से 31 जनवरी की 11 बजे तक तीन सीमाओं और उनके आस-पास के क्षेत्रों में इंटरनेट सेवाओं को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है। वहीं, दिल्ली पुलिस ने एहतियातन एनएच-24 को बंद कर दिया है।

हरियाणा में इंटरनेट सेवाएं 1 फरवरी तक बंद रहेगी

राणा ओबराय   
चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने अंबाला, कुरुक्षेत्र, करनाल, कैथल, पानीपत, हिसार, जींद, रोहतक, भिवानी, चरखी दादरी, फतेहाबाद, सिरसा, सोनीपत और झज्जर जिलों में वॉयस कॉल को छोडकऱ मोबाइल इंटरनेट की सेवाओं (2जी/3जी/4जी/सीडीएमए/जीपीआरएस),एसएमएस सेवाओं (केवल अधिसंख्य एसएमएस) और सभी डोंगल सेवाओं को निलंबित करने की अवधि एक फरवरी, 2021 शाम 5 बजे तक के लिए बढ़ा दी है। राज्य सरकार ने एसएमएस, व्हाट्सएप, फेसबुक ट्विटर आदि विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से दुष्प्रचार और अफवाहों के प्रसार को रोकने के लिए इंटरनेट सेवाओं को बंद करने का निर्णय लिया है। इस बारे में जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा के गृह सचिव ने लोक सुरक्षा का ध्यान रखते हुए ‘टैंपरेरी सस्पैंशन ऑफ टेलीकॉम सर्विसिज (पब्लिक इमरजेंसी और पब्लिक सेफ्टी) रूल्स ,2017 का रूल 2’ के तहत इंटरनेट सेवाएं बंद करने के आदेश दिए गए हैं। बीएसएनएल (हरियाणा के अधीन आने वाले क्षेत्र) सहित हरियाणा में टेलिकॉम सेवाएं देने वाली सभी कंपनियों को इस आदेश का पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। क्षेत्र में शांति बनाए रखने व लोक सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार द्वारा ये आदेश जारी किए गए हैं। कोई भी व्यक्ति इन आदेशों के उल्लंघन का दोषी पाया जाएगा तो वह संबंधित प्रावधानों के तहत कानूनी कार्रवाई के लिए उत्तरदायी होगा।

क्रूरता अधिनियम में तीन शातिर अभियुक्त गिरफ्तार

पंकज कुमार   
एटा। जैथरा पुलिस को सफलता मिलीं। गौवध व पशु क्रूरता अधिनियम में वांछित चल रहे 25-25 हजार रुपये के दो इनामिया सहित तीन शातिर अभियुक्त गिरफ्तार किएं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह के निर्देशन में जनपद में अपराध एवं अपराधियों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान के तहत थाना जैथरा पुलिस द्वारा गौवध व पशु क्रूरता अधिनियम में वांछित चल रहे 25 हजार रुपए के दो इनामिया अभियुक्तों सहित तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की गई है। रविवार को थाना जैथरा पुलिस द्वारा मुखबिर की सूचना पर चैकिंग के दौरान सिढ़पुरा चौराहे के पास से समय करीब 07.30 बजे गौवध अधिनियम व धारा 3/11 पशु क्रूरता अधिनियम में वांछित चल रहे 25-25 हजार रुपए के दो इनामिया अभियुक्तों आशिफ व इमरान सहित एक सह अभियुक्त रौकी को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार अभियुक्तों के विरुद्ध थानास्तर से आवश्यक वैधानिक कार्यवाही की जा रही है। तथा घटना में फरार चल रहे अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु सार्थक प्रयास किए जा रहे हैं।

विजेता-उपविजेता को पुरस्कार, सम्मानित किया

कौशाम्बी। सिराथू तहसील के बिसारा गांव के मजरा पतेरिया में कैनवस बाल क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया गया है। इस फाइनल मैच में बतौर मुख्य अतिथि पूर्व प्रदेश सचिव सपा लोहिया वाहिनी, महबूब आलम, उर्फ सज्जू रहे। टीम द्वारा मैच बेहतर तरीके से खेला गया। इस मैच में मैन आफ द मैच चंद्रप्रकाश प्रजापति बने हैं। पूर्व प्रदेश सचिव सपा लोहिया वाहिनी, महबूब आलम, उर्फ सज्जू ने विजेता उपविजेता टीम को पुरस्कार देकर सम्मानित किया। फाइनल मैच 10 ओवर में हुआ। इसमें पहले खेलते हुए पतेरिया ने 10 ओवर में 7 विकेट खोकर 65 रन बनाए। जवाब में गोल्डन क्रिकेट क्लब में रोमांचक मैच में नव ओवर 4 गेंद में 66 रन बनाकर मैच जीत लिया। मैन आफ द मैच चंद्र प्रकाश प्रजापति को दिया गया। उन्होंने 28 रन बनाए, अपनी टीम के लिए 4 विकेट लिए इस मौके पर अहमद रजा सैफी, मोनू प्रजापति, आसिफ, संदीप कुमार, अंबुज पाल, विराट पाल, गोलू सरोज आदि सैकड़ों लोग मौजूद रहे।
राजू सक्सेना 

उपनिरीक्षक की विदाई, फूल-मालाओं से स्वागत

अतुल त्यागी    
हापुड़। अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा रा. के पदाधिकारी रविवार को मुदाफरा पुलिस चौकी पर उप निरीक्षक इंद्रपाल सिंह पवार के विदाई समारोह में पहुंचे और उनको फूल माला पहला कर उनका स्वागत किया।
मुदाफरा पुलिस चौकी पर कार्यरत वरिष्ठ पुलिस उप निरीक्षक इंद्रपाल पवार के सेवा निवृत्त समारोह में इंद्रपाल पवार को करने पहुंचे संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पंडित महेश चंद शर्मा, मंडल अध्यक्ष पंडित विजेंद्र शर्मा, कोषाध्यक्ष सुनील शर्मा, डॉक्टर प्रकाश शर्मा, मास्टर विनोद शर्मा, सचिन शर्मा, मास्टर रोहताश शर्मा, रामेंद्र शर्मा, गहल सिंह, ज्ञान सिंह, जिला पंचायत सदस्य कृष्णकांत सिंह, शिवकुमार शर्मा लालपुर आदि।

ना तो संसद में चर्चा, ना किसान संगठनों से बात की

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी
हापुड़। जनपद में रविवार को कृषि कानून पर परिचर्चा की गई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केसी त्यागी ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कृषि कानून लाया गया। उस पर ना तो संसद में चर्चा की गई और ना ही किसान संगठनों से इस बारे में बात की गई और ना ही उस पर अपने सहयोगी दलों से किसी भी प्रकार की चर्चा की गई। रविवार जो किसान सड़कों पर हैं। यह उसी का नतीजा है। यदि संसद में इस पर चर्चा की जाती तो शायद ऐसा ना होता। पिछले 4 साल से गन्ने का एक ही रेट है जबकि बिजली व कीटनाशकों के रेट अत्याधिक बड़ गए हैं। 1975 में 1 किलो गेहूं में आ जाता था 1 लीटर डीजल लेकिन रविवार को 1 लीटर डीजल के दाम में आता है। 4 किलो गेहूं किसानों के उत्पादकों ने मात्र 19 परसेंट की बढ़त हुई है। लेकिन अध्यापक व अन्य नौकरी करने वालों की सैलरी में 90% की बढ़ोतरी की गई है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश कि जा रही हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानो ने राकेश टिकेत को समर्थन देकर किसानों की इज्जत बचाई किसान बिलो का विरोध करे और गाजीपुर जाकर किसानों के हित की लड़ाई लड़े किसी भी प्रकार  की अराजकता न फैलाएं और शांतिपूर्ण प्रदर्शन करें। यदि प्रधानमंत्री अपनी तरफ से पहल करें तो उन की बात का मान करे। उन्होंने कहा कि यह आंदोलन तब तक करना चाहिए। जब तक कि किसानों को मूल्य निर्धारण का अधिकार ना मिल जाये। इस अवसर पर कृपाल सिंह, मदन प्रकाश सैनी, मुकेश सैनी ,चौधरी शीशपाल सिंह, एडवोकेट मुकुल त्यागी सहित अन्य भक्तों ने भी अपने विचार रखे।

राज्यमंत्री ओमप्रकाश का किया गया भव्य स्वागत

राणा ओबराय   
चंडीगढ़। हरियाणा के लोकप्रिय राज्यमंत्री ओमप्रकाश यादव का महेंद्रगढ़ के गांव कमानिया में पहुचने पर किसानों एवं जनसमुदाय ने अभूतपूर्व स्वागत किया। विशेष बात यह है कि जब पूरे प्रदेश मे किसान कृषि कानूनो को लेकर सरकार का विरोध कर रहे है।ऐसे विरोधाभास समय भी बड़ी संख्या में पहुचकर किसान समुदाय ने राज्यमंत्री ओमप्रकाश का अभूतपूर्व स्वागत सम्मान किया। राज्यमंत्री ओमप्रकाश यादव का कार्यक्रम स्थल पहुचने पर लोगो द्वारा फूलमाला पहनकर ताडियो की गड़गड़ाहट के साथ अभिनन्दन किया।

झारखंड: कलयुगी बेटे ने अपनी वृद्ध मां की हत्या की

रांची। झारखंड में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक बेटे ने खाना मिलने में हुई देरी पर अपनी वृद्ध मां को ही मार डाला। इतना ही नहीं मरने के बाद घर के आंगन में उसका शव जलाकर चिता पर चिकन बनाकर भी खाया। एक बेटे के इस कुकर्म की खबर जब ग्रामीणों को हुई तो गांव वालों ने आरोपी के हाथ-पैर रस्सी से बांध कर पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर मामले की जांच शुरू कर दी है।जानकारी के मुताबिक यह घटना झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिले के जोजोगुट गांव की है। यहां 35 वर्ष्रीय प्रधान सोय नशे की हालत में घर पंहुचा तो मां से खाना मांगा, खाना मिलने में देरी हुई तो उसने अपनी 60 वर्षीय मां सुमी सोय को लाठी से पीटने लगा और मां को तब तक मारता रहा, जबतक उनकी मौत नहीं हो गई। इसके बाद आरोपी ने घर के आंगन में ही लकड़ी और धान की भूसे से चिता जलाकर उस पर मुर्गा सेक कर खाया। खाना खाने के बाद उसने अधजली लाश को छोड़कर घर में ही सो गया।आरोपी की भाभी सोमवारी सोय ने बताया कि रात को हम और उसकी मां खाना खाकर सोने जा रहीं थी, तभी प्रधान सोय घर पंहुचा और उस मारने-पीटने लगा।

अपनी जान बचाने के लिए उसने अपने एक महीने के बच्चे को लेकर घर से भागकर एक पेड़ के नीचे रात काटी। सुबह होने के बाद जब वह घर पहुंची तो देखा कि प्रधान अपनी मां की अधजली लाश को चूल्हे में डालकर जलाने जा रहा है, उसे देखने के बाद वह भागने लगा,जिसके बाद उन्होंने चिल्लाकर ग्रामीणों को आवाज लगाई। गुस्साए गांव वालों ने दौड़ाकर उसे पकड़ लिया और हाथ–पैर रस्सी से बांध दिए। ग्रामीणों ने बताया कि इसी तरह वह 5 वर्ष पहले अपने पिता की भी हत्या कर चुका है और दो वर्ष पहले ही जेल से छूटकर घर आया है।

राजस्थान में निकाय चुनाव की मतगणना जारी

नरेश राघानी   

जयपुर। राजस्थान में निकाय चुनाव के मतों की गणना जारी है। गौरतलब है कि एक नगर निगम, 9 नगर परिषद और 80 नगर पालिका के लिए 28 जनवरी को चुनाव हुए थे। 3035 वार्डों में वोट डाले गए थे। 28 जनवरी को सुबह 8 से शाम 5 बजे तक मतदान हुई थी। रविवार से मतों की गणना की जारी है। बता दें कि हनुमानगढ़ निकाय में चुनाव के नतीजे भाजपा के लिए निराशाजनक आए है। भाजपा को पांचों पालिकाओं में से किसी में भी बहुमत हासिल नहीं हुआ। संगरिया में 35 वार्डों में लड़ी भाजपा को सिर्फ तीन सीटें मिली। हनुमानगढ़ नगरपालिका भादरा में निर्दलीयों को बहुमत मिला है। भादरा में 40 में से 26 निर्दलीय जीते हैं। संगरिया में 35 में से 27 पर निर्दलीय उम्मीदवारों को जीत मिली है। वहीँ पीलीबंगा में किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है। पीलीबंगा में 35 में से 17 सीटों पर जीतकर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनी है। रावतसर में निर्दलीयों को बहुमत मिला है। रावतसर में 35 में से 15 वार्डों में निर्दलीय उम्मीदवारों को बहुमत मिला है। रावतसर में 35 में से 15 वार्डों में निर्दलीय उम्मीदवारों को जीत मिली है। नोहर में कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत मिला है। 40 वार्डों में 21 पर कांग्रेस प्रत्याशी जीते हैं। कुल 185 वार्डों में से 92 पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते हैं।

जिसने तिरंगा का अपमान किया, उसें पकड़ा जाए

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि 26 जनवरी को लाल किले पर तिरंगे का अपमान देखकर देश बहुत दुखी हुआ है। पीएम मोदी की इस टिप्पणी पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि तिरंगा सारे देश को प्यारा है, जिसने अपमान किया है, उसको पकड़ा जाए। बंदूक की नोक पर बातचीत नहीं होगी।  तिरंगा केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नहीं है।

सीआरपीएफ के जवानों ने बरामद किए 300 स्पाइक

सुकमा। सीआरपीएफ के जवानों ने नक्सलियों की बड़ी साजिश को नाकाम कर दी है। जवानों ने 27 गड्ढों में से 398 स्पाइक बरामद किए हैं। बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने जवानों को निशाना बनाने के लिए यह साजिश रची थी। मिली जानकारी के अनुसार सीआरपीएफ कमांडेंट डीएन यादव के निर्देश पर जवानों की टीम इलाके की सर्चिंग पर निकली थी। इसी दौरान पोलमपल्ली पालामड़गु के बीच 27 स्पाइक होल में से 398  स्पाइक बरामद की है।

साउथ की फिल्मों में जलवा दिखाएंगे बॉबी देओल

मनोज सिंह ठाकुर   
मुंबई। एक्टर बॉबी देओल अब साउथ में धमाल मचाते नजर आने वाले हैं। खबर आ रही है कि दक्षिण भारत की एक ग्रैंड फिल्म में जल्द ही बॉबी देओल नजर आने वाले है। उन्हें दक्षिण भारत की ग्रैंड फिल्म ‘बाहुबली’ के टक्कर में बनने वाली एक फिल्म में विलेन की भूमिका निभाने का मौका मिल रहा है। कहां जा सकता है कि वेब सीरीज ‘आश्रम’ की सफलता ने बॉबी देओल के लिए नए आयाम खोल दिए हैं। ऐसे में अब बॉबी का करियर रफ्तार पकड़ता दिख रहा।

सबसे आसान तरीकों से बनाई जाती है मिस्सी रोटी

बनाए मिस्सी रोटी ये सबको पसंद आएगी। मिस्सी रोटी स्वादिष्ट होने के साथ-साथ पौष्टिक होती है। इसे आसानी से बनाई जा सकती है। घर में रखे कुछ समानों से ही आप इसे तैयार कर सकती है।  

सामग्री :
गेहूं का आटा
बेसन
अजवाइन
बारीक कटी प्याज
चुटकीभर हींग
हल्दी
कसूरी मेथी
बारीक कटी धनिया पत्ती
नमक स्वादानुसार
तेल जरूरत के अनुसार
पानी आटा गूंदने के लिए

विधि :
- एक बर्तन में आटा और बेसन लेकर उसमें नमक, अजवाइन, प्याज, हींग, हल्दी, कसूरी मेथी, धनिया पत्ती और तेल डालकर अच्छे से मिक्स कर लें।
- फिर पानी डालते हुए धीरे-धीरे नरम आटा गूंदें और 20 मिनट तक ढककर रख दें।
- तय समय के बाद आटे की लोइयां तोड़ लें।
- धीमी आंच में एक तवा गर्म करने के लिए रखें।
- तवे के गर्म होते ही एक लोई लें और इसे गोलाकार में बेल लें।
- तवे के गर्म होते ही रोटियों को दोनों साइड से सेंक लें।
- तैयार है गर्मागर्म मिस्सी रोटी। रोटी पर मक्खन या घी लगाकर सर्व करें।

पाचनक्रिया का मंद हो जाना ही मंदाग्नि कहलाता है

मंदाग्नि अभी के समय में आम समस्या बन गई है। पाचनक्रिया का मंद हो जाना ही मंदाग्नि कहलाता है। खाने का समान शुद्ध खाद्य पदार्थ के स्थान पर मिलावटी खाद्य पदार्थ मिलने लगे हैं। इसकी वजह से मंदाग्नि रोग में बढ़ोतरी होती जा रही है। सेंधा नमक, पानी और सौंफ का उपयोग करें, आराम मिलेगा। 

सेंधा नमक : सेंधा नमक एक भाग और देशी चीनी(बूरा) चार भाग – दोनों को मिलाकर बारीक पीस लें। आधा चम्मच नित्य तीन बार गरम पानीसे लेने पर वायु गोला एवं वायु विकार ठीक हो जाता है।

पानी : खाना खाने के बाद एक गिलास गरम पानी(जितना गरम पिया जा सके) लगातार कुछ सप्ताहतक पीते रहने से वायु विकार में लाभ होता है।

सौंफ : नीबू के रस में भीगी हुई सौंफ भोजन के बाद खाने से पेट का भारीपन दूर होता है। गैस निकलती है, भूख लगती है तथा मल भी साफ होता है।

किसान आंदोलन: किले में तब्दील हुआ गाज़ीपुर बॉर्डर

किसान आंदोलन- किले में तब्दील हुआ गाज़ीपुर बॉर्डर, अक्षर धाम, नोएडा, इंदिरापुरम जाने वाला रास्ता बंन्द

नई दिल्ली। दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों की संख्या बढ़ती जा रही है। रातो-रात गाजीपुर बॉर्डर को किले में तब्दील कर दिया गया। गाजीपुर बॉर्डर पर पिछले 2 महीने से ज्यादा समय से कृषि कानून के खिलाफ आंदोलन चल रहा है। 26 तारीख को दिल्ली के लाल किले पर हुई घटना के बाद लगातार किसान वापस जा रहे थे। और उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से गाजीपुर बॉर्डर को खाली करने का आदेश भी दिया गया था। लेकिन किसान नेता राकेश टिकैत के मीडिया के सामने रो जाने की घटना के बाद से एक बार फिर गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों के जत्थों का जुटना शुरू हो गया है। हालात ये है कि गाजीपुर बॉर्डर पर एक बार फिर किसानों का मजमा लगना शुरू हो गया है। और दूर-दूर तक एक बार फिर ट्रैक्टर ट्रॉली ही नजर आ रही हैं।
किसानों के बढ़ते हुजूम को देखकर सरकार भी बातचीत करने के लिए तैयार है। शनिवार के दिन हुई सर्वदलीय बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने भी सभी विपक्षी पार्टी के नेताओं से कहा कि किसान और सरकार के बीच बातचीत का रास्ता हमेशा खुला है। भले ही सरकार और किसान आम सहमति पर नहीं पहुंचे। लेकिन हम किसानों के सामने विकल्प रख रहे हैं। वो इस पर चर्चा करें किसानों और सरकार के बीच बस एक कॉल की दूरी है।
12 लेयर की बैरिकेडिंग
गाजीपुर बॉर्डर पर बढ़ती संख्या और किसान दिल्ली की ओर कूच ना करें इसके लिए गाजीपुर बॉर्डर पर रातो-रात 12 लेयर की बैरिकेडिंग कर दी गई है। गाजीपुर बॉर्डर पर ये बैरिकेडिंग दिल्ली पुलिस की तरफ से की गई है। पुलिस को आशंका है। कि 1 फरवरी को, जिस दिन संसद में बजट सत्र पेश होना है। ऐसे में किसान कहीं दिल्ली की तरफ कूच ना कर दें इसी आशंका के चलते यह बैरिकेडिंग की गई है।

31 जनवरी से पक्षी उत्सव का आगाज होगा

बेमेतरा। बेमेतरा जिले के नवागढ़ विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम-गिधवा-परसदा में रविवार 31 जनवरी से पक्षी उत्सव का आगाज हो जाएगा। तीन दिनों तक चलने वाले इस बर्ड फेस्टिवल में देश भर से आई पक्षी विज्ञानी अपने अनुभव साझा करेंगे और अपने ज्ञान से बर्ड वाचर्स को समृद्ध करेंगे। इस कार्यक्रम में शिरकत करने पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, कनार्टक के पक्षी विज्ञानी एवं बर्ड वाचर जुट रहे हैं।
कार्यक्रम के संबंध में जानकारी देते हुए डीएफओ धम्मशील गणवीर ने बताया कि गिधवा-परसदा में होने वाला बर्ड फेस्टिवल अपने तरह का अनोखा बर्ड फेस्टिवल है। छत्तीसगढ़ की धरती पक्षियों की अनेक प्रजातियों से समृद्ध रही है। छत्तीसगढ़ी भाषा में पक्षियों के अनेक तरह के नाम एवं उनके गुणधर्म से जुड़े हुए किस्से शामिल हैं। प्रवासी पक्षियों की भी अनेक किस्म यहाँ आती है।
गिधवा-परसदा के बड़े सरोवरों में भी यह प्रवासी पक्षी जुटते हैं। इस धरोहर को सहेजने, इसके बारे में ज्ञान को साझा करने एवं इस बाबत और भी जानने बर्ड फेस्टिवल मनाने का निर्णय लिया गया। आयोजन में पक्षियों के सुंदर संसार के बारे में दिलचस्प बातें साझा की जाएंगी। साथ ही देश के जाने-माने पक्षी विज्ञानी अपने अनुभव साझा करेंगे। इस फेस्टिवल के माध्यम से इनके संरक्षण के संबंध में भी लोग अधिक जागरूक हो सकेंग।
उल्लेखनीय है कि उत्सव के पहले दिन क्रो फाउंडेशन के रवि नायडू पक्षी दर्शन और उसका महत्व विषय पर व्याख्यान देंगे। नोवा नेचर वेल्फेयर सोसायटी के एम सूरज आर्द्र भूमि संरक्षण एवं जीविकोपार्जन विषय पर अपना व्याख्यान देंगें। शाम को डाक्यूमेंट्री दिखाई जाएगी और सांस्कृतिक कार्यक्रम कराए जाएंगे। स्थानीय ग्रामीणों की सहभागिता से यह कार्यक्रम होंगे। आयोजन समिति के सदस्य राजू वर्मा ने बताया कि गिधवा-परसदा बर्ड वाचिंग की दृष्टि से उम्दा साइट है। अपनी इस धरोहर के बारे में नई पीढ़ी के लोग जानेंगे और इस संबंध में आने वाले बर्ड वाचर्स को भी अवगत कराएंगे तो उनके लिए भी आय का रास्ता खुलेगा।
एक फरवरी सोमवार को पक्षी विशेषज्ञ एमके भरोस का संबोधन होगा। इसके बाद ग्रामीणों के साथ पक्षियों के संरक्षण पर परिचर्चा होगी। पक्षी किसानी के लिए किस तरह से उपयोगी होते हैं। इस विषय पर कुरुद कालेज के असिस्टेंट प्रोफेसर हितेंद्र टंडन का व्याख्यान होगा। सेनि पीसीसीएफ केसी बेबर्ता पक्षी एवं जल संरक्षण विषय पर अपना व्याख्यान देंगे। बर्ड फ्लू पर मानव जीवन का प्रभाव विषय पर वैज्ञानिक डाॅ. जसमीत सिंह अपना व्याख्यान देंगे। नम्रता, सीईओ एसआरटी गिधवा परसदा जलाशय संरक्षण के लिए जैविक खेती विषय पर अपना व्याख्यान देंगी। शाम को नुक्कड़ नाटक का आयोजन होगा। दूसरे दिन बच्चों के लिए चित्रकला जैसी प्रतियोगिताओं का आयोजन होगा।
तीसरे दिन होगा पिनटेल मैराथन- मंगलवार को पिनटेल मैराथन का आयोजन होगा। यह परसदा से गिधवा तक 7 किमी तक होगा। इसके बाद पक्षी एवं उनका रहवास विषय पर आलोक चंद्राकर का संबोधन होगा। हम और जल विषय पर इको साल्यूशन के यतेंद्र अग्रवाल का व्याख्यान होगा।

टी-20 क्रिस गेल के एविन लुईस का जबरदस्त धमाका

टी 20 क्रिस गेल के जोड़ीदार एविन लुईस का जबरदस्त धमाका, युवराज के छक्कों का रिकॉर्ड टूटने से बचा

नई दिल्ली। अबुधाबी टी10 क्रिकेट टूर्नामेंट  में शनिवार को वेस्टइंडीज के धुआंधार सलामी बल्लेबाज और क्रिस गेल के जोड़ीदार एविन लुईस ने मराठा अरेबियंस के खिलाफ एक ही ओवर में पांच छक्के जड़ डाले। उनकी इस धुआंधार पारी के दम पर उनकी टीम दिल्ली बुल्स  ने मराठा पर नौ विकेट से एकतरफा जीत हासिल की। शेख जायद स्टेडियम में खेले गए इस मैच में मराठा ने पहले खेलते हुए निर्धारित 10 ओवरों में 87 रन बनाए। इसके जवाब में दिल्ली की टीम ने लुईस की पारी के दम पर इस लक्ष्य को पांचवें ओवर में ही हासिल कर लिया।
लुईस ने अपनी इस पारी में मात्र दो चौके और सात लंबे छक्के बरसाए। इस दौरान उन्होंने अपनी फिफ्टी मात्र नौ गेंद में ही पूरी कर ली। एविन लुईस ने बांग्लादेश के गेंदबाज मुख्तार अली को निशाना बनाते हुए उनके एक ही ओवर में पांच छक्के ठोक दिए और ओवर में कुल 33 रन बटोरे। बता दें कि भारत के युवराज सिंह ने 2007 में स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ही ओवर में छह छक्के लगाए थे। लुईस ने अपनी पारी के 55 रन बनाने के लिए मात्र 16 गेंदें लीं। उनके अलावा इंग्लैंड के रवि बोपारा ने भी टीम की तरफ से अहम योगदान देते हुए 12 गेंद में पांच चौकों के सहारे 28 रन की नाबाद पारी खेली।
इस मैच में मराठा अरेबियंस की शुरुआत काफी खराब रही थी। टीम को पहला झटका पारी के पहले ही ओवर में लग गया, जब विकेटकीपर अब्दुल शाकूर बिना खाता खोले आउट हो गए। टीम के लिए इसके बाद जावेद अहमद ने 19 गेंदों पर 24 और कप्तान मोसद्देक हुसैन ने 22 गेंदों पर 35 रन बनाए। दिल्ली की तरफ से अहमद भट्ट, फिडेल एडवर्ड और अली खान ने एक-एक विकेट झटका। 10 ओवरों में 88 रनों के लक्ष्य के साथ उतरी दिल्ली की शुरुआत अच्छी नहीं रही, जब गुरबाज मुख्तार सस्ते में पवेलियन लौट गए लेकिन इसके बाद एविन लुईस और बोपारा ने टीम को कोई और नुकसान नहीं होने दिया, जिससे टीम 9 विकेट से यह मैच जीतने में सफल रही।

आंदोलन बदनाम, पूंजीपतियों को फायदे का आरोप

संदीप मिश्रा    
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर किसानों को बदनाम करने और खरबपतियों को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया है। रविवार को पूर्व मुख्यमंत्री यादव ने एक ट्वीट के जरिये भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर निशाना साधा।ट्वीट में यादव ने कहा, “भाजपा द्वारा किसानों को बदनाम करने के प्रपंचों से किसान बहुत आहत हैं, भाजपा ने नोटबंदी, जीएसटी, श्रम क़ानून व कृषि क़ानून लाकर खरबपतियों को ही फ़ायदा पहुँचाने वाले नियम बनाए हैं। भाजपा ने आम जनता को बहुत सताया है।”
इसी ट्वीट में अखिलेश यादव ने भारतीय किसान यूनियन के नेता चौधरी राकेश सिंह टिकैत का नाम लिए बिना शायराना अंदाज में लिखा, “वो आँसू टपके बस दो आँख से हैं, पर दुख-दर्द वो लाखों लाख के हैं।” उल्लेखनीय है कि गणतंत्र दिवस पर किसान आंदोलन के दौरान हुए बवाल के बाद किसान नेता राकेश सिंह टिकैत का मीडिया के सामने फफक-फफक कर रोते हुए वीडियो वायरल हुआ था।

40,000 ₹ कीमत, 500 से ज्यादा लड़कियां बेची

अविनाश श्रीवास्तव  
रांची। झारखंड में मानव तस्करी के मामले में गिरफ्तार पूनम बारला को जेल भेज दिया गया। पुलिस का दावा है कि पूनम प्लेसमेंट एजेंसी संचालित कर बड़े ही शातिराना अंदाज में लड़कियों की तस्करी कर रही थी। पूनम को रंगे हाथ पुलिस ने रांची एयरपोर्ट से ह्यूमन ट्रैफिकिंग के आरोप में गिरफ्तार किया। पुलिसिया पूछताछ में ह्यूमन ट्रैफिकिंग की आरोपी ने पुलिस के सामने कई राज खोले और बताया कि एक बच्ची को दिल्ली ले जाने के एवज में उसे 40 हज़ार रुपए बतौर कमीशन मिलता था। रांची पुलिस के द्वारा रांची एयरपोर्ट से पूनम बारला नामक एक महिला को 7 लड़कियों के साथ गिरफ्तार किया था। सभी बच्चियां खूंटी जिले की हैं, जिन्हें काम दिलाने के नाम पर हवाई जहाज से दिल्ली ले जाया जा रहा था। इन सभी लड़कियों को पूनम अपने साथ ले जा रही थी। आरोपी ने पुलिस के समक्ष जो बयान दिया है उसके मुताबिक, वह पिछले 8 साल से इस धंधे में है और दिल्ली में बाकायदा उसका ऑफिस भी है। उसकी प्लेसमेंट एजेंसी का नाम पुनम प्लेसमेन्ट सर्विस है। पूछताछ में पूनम ने बताया कि हर लड़की की एवज में उसे 40 हज़ार रुपए बतौर कमीशन के रूप में मिलते थे और अब तक वह 500 से ज्यादा लड़कियों की तस्करी कर अपने साथ दिल्ली ले गई है।

3650 से अधिक पदों पर निकलीं भर्ती, मिला मौका

डाक विभाग में नौकरी करने का मौका, निकली 3650 से अधिक पदों पर भर्ती, जाने कैसे होगा चयन।

नई दिल्ली। भारतीय डाक विभाग में ग्रामीण डाक सेवक के 3650 से अधिक पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी किया गया है। डाक विभाग में इस भर्ती के तहत आंध्र प्रदेश पोस्टल सर्किल, दिल्ली पोस्टल सर्किल और तेलंगाना पोस्टल सर्किल में ग्रामीण डाक सेवकों ( जीडीएस) के कुल 3679 पदों पर नियुक्ति की जाएगी। जीडीएस के पदों पर नौकरी के इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर 26 फरवरी 2021 तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। भारतीय पोस्ट रिक्वायरमेंट के तहत ग्रामीण डाक सेवक (जीडीएस) के पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/बोर्ड से 10वीं पास होना जरूरी है। भारतीय पोस्ट जीडीएस आयु सीमा डाक विभाग में जीडीएस के पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों की न्यूनतम आयु 18 वर्ष तथा अधिकतम उम्र 40 वर्ष निर्धारित की गई है। आयु की गिनती 27 जनवरी 2021 तक की उम्र के आधार पर की जाएगी। पोस्टल सर्किल में जीडीएस के पदों पर आवेदन के लिए सामान्य एवं ओबीसी वर्ग के पुरुष उम्मीदवारों को 100 रुपये शुल्क देना होगा। जबकि एससी/एसटी वर्ग के उम्मीदवारों को कोई आवेदन शुल्क नहीं देना होगा यानी आवेदन निशुल्क है। ग्रामीण डाक सेवा (जीडीएस)। कैसे होगा चयन? डाक विभाग में ग्रामीण डाक सेवकों के पदों पर उम्मीदवारों का चयन 10वीं के अंकों के आधार पर तैयार मेरिट लिस्ट से होगा. जीडीएस के पदों पर नौकरी के लिए उम्मीदवारों को कोई लिखित परीक्षा या इंटरव्यू नहीं देना होगा। भारतीय डाक विभाग के आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और दिल्ली सर्किल में जीडीएस के पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। बता दें कि आवेदन की अंतिम तिथि 26 फरवरी 2021 निर्धारित है। अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करके आधिकारिक नोटिफिकेशन डाउनलोड कर सकते हैं।

दर-दर भटकती रही हैवानियत की शिकार मासूम

प्रशांत कुमार  

गोरखपुर। दरिंदों की हैवानियत का शिकार बनी कुशीनगर जिले के नेबुआ नौरंगिया थाना क्षेत्र की रहने वाली बिटिया को इलाज के लिए दौड़ाया जाता रहा। कुशीनगर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से बाबा राघवदास मेडिकल कालेज तक बिटिया के इलाज के लिए पिता फूट.फूटकर रोता रहा लेकिन किसी को तरस नहीं आयी। जिस डाक्टर के पास बिटिया को लेकर पिता पहुंचता वह मेडिको लीगल का मामला बताकर पहले महिला सिपाही लेकर आने को कहता। तड़पती बिटिया को गोद में लिए घूम रहा पिता जीवन की भीख मांगता रहा। लेकिन उसे इधर से उधर दौड़ाया जाता। दर्द से चीख रही बिटिया को समझ में भी नहीं आ रहा था कि सबका दर्द हरने वाले धरती के भगवान क्यों उसके पास आकर वापस चले जा रहे है।

बिटिया को लेकर पिता भोर में 3ः15 बजे बाबा राघवदास मेडिकल कालेज पहुंचा। दर्द के कारण वह बेहोश हो जा रही थी। इमरजेंसी में डाक्टरों ने पुलिस केस बताकर इलाज से मना कर दिया। पिता सबसे गुहार लगाता रहा। जब किसी ने नहीं सुनी तो बिटिया को लेकर मेडिकल कालेज से बाहर चला गया। उसने बिटिया की हालत की जानकारी खड्डा के विधायक जटाशंकर त्रिपाठी को दी। फोन पर ही पिता रोने लगा। बताया कि बेटी को इलाज भी नहीं मिल पा रहा है। इसकी जानकारी होते ही विधायक मेडिकल कालेज पहुंचे। उन्होंने बिटिया को अपने सामने भर्ती कराया। तब सुबह तकरीबन नौ बजे उसका इलाज शुरू हो सका।

यूपी में बदलेगा आरटीओ का कामकाज, सेवाएं बंद

कल से बदल जायेगा यूपी में आरटीओ का कामकाज़, बंद हो जाएंगी ये 13 सेवाएं
अश्वनी उपाध्याय  
गाजियाबाद। यूपी परिवहन विभाग अब हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट को लेकर सख्ती दिखानी शुरू कर दी है। सोमवार यानी 1 फरवरी से वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट नहीं होने से गाजियाबाद आरटीओ सहित प्रदेश के लगभग सभी परिवहन कार्यलयों में गाड़ियों से जुड़े 13 काम बंद हो जाएंगे। परिवहन विभाग ने एक फरवरी से इस नियम को लागू कर दिया है। खासकर अब व्यावसायिक वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाना अनिवार्य हो गया है। पिछले दिनों ही यूपी सरकार ने एक आदेश जारी कर कहा था। कि अगर 15 अप्रैल तक वाहनों पर एचएसआरपी नहीं लगी तो 16 अप्रैल से 5 हजार रुपये जुर्माना वसूला जाएगा।
दरअसल, 1 फरवरी से गाजियाबाद और नोएडा सहित प्रदेश के सभी आरटीओ में बिना एचएसआरपी के वाहनों के रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की सेकेंड कॉपी, वाहन का रजिस्ट्रेशन ट्रांसफर, पता परिवर्तन, रजिस्ट्रेशन का नवीनीकरण, अनापत्ति प्रमाण पत्र, हाइपोथैकेशन कैंसिलेशन, हाइपोथैकेशन एंडोर्समेंट, नया परमिट, अस्थाई परमिट, विशेष परमिट, ईएमआई वाले वाहनों का निस्तारण, मंथली टैक्स और नेशनल परमिट के काम नहीं होंगे।
गाजियाबाद के एआरटीओ (प्रशासन) विश्वजीत प्रताप सिंह न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं। शासन की तरफ से बिना एचएसआरपी के 13 कामों को फिलहाल रोकने के आदेश मिले हैं। जो 1 फरवरी से लागू होंगे। इसलिए वाहन मालिक एचएसआरपी जल्द से जल्द लगा लें। वाहन मालिक ऑनलाइन भी बुकिंग कर सकते हैं।

चैन्नई: ऑटो ड्राइवर ने पेश की इमानदारी की मिसाल

ऑटो ड्राइवर ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, लाखों के गहनों से भरा बैग वापस लौटाया, पूरी खबर पढ़कर आप भी करेंगे सलाम

चेन्नई। पुलिस ने रूट्स से फुटेज देखे और ऑटो रिक्शा का पता लगाने में कामयाब रही चेन्नई के एक ऑटो ड्राइवर ने ईमानदारी का परिचय देते हुए लोगों का दिल जीत लिया। ऑटो ड्राइवर सरवन कुमार ने यात्री का एक बैग वापस लौटाया जिसमें 20 लाख रुपये की ज्वैलरी थी। उसकी ईमानदारी के लिए चेन्नई पुलिस ने उसे सम्मानित किया है। दरअसल पॉल ब्राइट नाम का एक व्यक्ति अपने रिश्तेदार के शादी समारोह में शामिल होने के बाद फिर ऑटो में जा रहे थे। उनके पास कई बैग थे। जिनमें एक बैग ज्वैलरी से भरा था। पॉल यात्रा के दौरान फोन पर बात करने में लगे हुए था। और ऑटो से उतरने के दौरान ज्वैलरी से भरे बैग को वहीं छोड़ दिया। कुमार ने बाद में पीछे की सीट पर पड़े बैग को देखा लेकिन वह यह नहीं समझ पाया कि इसे मालिक को कैसे लौटाया जाए। इसी बीच पॉल ब्राइट को बैग गायब होने का ध्यान आया और वह घबरा गया पॉल ने क्रोमपेट पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने रूट्स से फुटेज देखे और ऑटो रिक्शा का पता लगाने में कामयाब रही। पुलिस के ऑटो मालिक के पास जा जाने से पहले ही कुमार ज्वैलरी का बैग लेकर पुलिस स्टेशन पहुंच गया। पुलिस ने सरवन कुमार को एक गुलदस्ता देकर सम्मानित किया और ईमानदारी के लिए उनकी सराहना की। इस घटना की खबर जैसे ही सोशल मीडिया पर आई तो लोग कुमार की ईमानदारी की तारीफ करने लगे और उसके कार्य को मानवता में विश्वास बनाए रखने वाला बताया।

हटके: पिता की अर्थी को 12 बेटियों ने दिया कंधा

बेटियों को सलाम! पिता की अर्थी को 12 बेटियों ने दिया कंधा, पूरा गांव हुआ शामिल
वाशीम। आमतौर पर भारतीय समाज में माता-पिता के पार्थिव शरीर को कंधा और मुखाग्नि देने की परंपरा बेटों की है। लेकिन महाराष्ट्र में एक पिता की अर्थी को 12 बेटियों ने कंधा देकर यह साबित कर दिया कि माता-पिता के लिए हर संतान बराबर है। महाराष्ट्र के वाशीम जिले के शेंदुरजना गांव में पुरुष प्रधान संस्कृति को पीछे छोड़ 12 बेटियों ने अपने पिता की अर्थी को कंधा दिया 92 साल के बुजुर्ग सखाराम गणपतराव काले का 29 जनवरी को निधन हो गया। उन्हें कोई पुत्र तो नहीं था। लेकिन 12 बेटियां जरूर थी। अंतिम संस्कार में बेटे की कमी उनकी 12 बेटियों ने पूरी कर दी और उनके पार्थिव शरीर को कंधा देकर श्मशान घाट पहुंचाया और मुखाग्नि दी। मृतक सखाराम गणपतराव काले गांव में बतौर सामाजिक कार्यों में हमेशा सक्रिय रहते थे। जिस कारण पूरा गांव उनके अंतिम संस्कार में शामिल हुआ। अंतिम संस्कार के बाद उनकी बेटियों ने कहा कि हमारे पिता की अंतिम इच्छा थी कि हम सब उनका अंतिम संस्कार करें, और हमने उनकी अंतिम इच्छा पूरी की है। उनकी बेटी भाग्यश्री ने कहा हम 12 बहने हैं। पिताजी के अर्थी को कंधा और मुखाग्नि देकर उनकी अंतिम इच्छा पूरी की है। हमने दिखा दिया कि हम बेटों से कम नहीं हैं।

दर्शक क्षमता के साथ चल सकेंगे सिनेमाघर: जावड़ेकर

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने रविवार को कहा कि एक फरवरी से देश भर में सिनेमाघरों को कोविड-19 के सुरक्षा नियमों का पालन करने के साथ शत-प्रतिशत दर्शक क्षमता के साथ परिचालन की अनुमति होगी। मंत्री ने मानक संचालन प्रक्रियाओं को जारी करते हुए कहा कि टिकटों की डिजिटल बुकिंग और अलग-अलग समय पर शो के आयोजन को बढ़ावा दिया जाएगा। जावड़ेकर ने यहां संवाददाताओं से कहा कि एक अच्छी खबर है। फरवरी में लोग सिनेमाघरों में फिल्में देख सकते हैं और उनका आनंद ले सकते हैं क्योंकि हम सिनेमाघरों में शत-प्रतिशत क्षमता के साथ दर्शकों के आने की अनुमति दे रहे हैं। सिनेमाघर अब शत-प्रतिशत दर्शक क्षमता के साथ खुल सकते हैं। हम टिकटों की यथासंभव ऑनलाइन बुकिंग को प्रोत्साहन देते हैं।

भारत: 1 ऐसा आईलैंड जो गया वापस नहीं आया

भारत का एक ऐसा आइलैंड यहां रहती है बहुत ही खतरनाक प्रजाति, वहां जो भी गया जिन्दा नहीं लौटा
दुनियाभर में आज भी कई ऐसी जनजातियां मौजूद हैं। जिनके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। ऐसी ही एक जनजाति भारत के अधिकार क्षेत्र में आने वाले नॉर्थ सेंटिनल आइलैंड पर रहती है। जिनका आधुनिक मानव सभ्यता से कोई लेना-देना नहीं है। इस जनजाति के लोग इतने ज्यादा आक्रामक और खतरनाक हैं। कि वे किसी को अपने आस-पास फटकने नहीं देते ऐसे में सरकार ने यहां लोगों के जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है। सरकार ने कई बार इस आइलैंड के लोगों की मदद के लिए हाथ बढ़ाया, लेकिन हर बार निराशा ही मिली सन् 2004 में आई सुनामी के बाद भारत सरकार ने इस द्वीप पर मौजूद लोगों की खबर लेने के लिए सेना का एक हेलिकॉप्टर भेजा था। लेकिन यहां के लोगों ने उस पर भी हमला कर दिया. हवाई तस्वीरों से यह साफ होता है। कि ये जनजाति खेती नहीं करती, क्योंकि इस पूरे इलाके में अब भी घने जंगल हैं। इससे यह निष्कर्ष निकाला गया कि यह जनजाति शिकार पर निर्भर है। बहुत से लोगों का मानना है। कि इस जनजाति तक पहुंच बनाई जानी चाहिए। वहीं, कुछ मानते हैं। कि उन्हें अपने हाल पर छोड़ देना ही ठीक है।
23 किलोमीटर में फैले इस आइलैंड पर ये जनजाति करीब 60,000 सालों से रह रही हैं। ऐसा माना जाता है कि इनकी संख्या कुल 100 के आसपास है। इन लोगों को लॉस् भी कहा जाता है। कुछ रिपोर्टों में इसे दुनिया की सबसे अलग-थलग रहने वाली जनजाति करार दिया गया है। यह आइलैंड बंगाल की खाड़ी में पोर्ट ब्लेयर से 50 किलोमीटर दूर स्थित है।

राहत: सख्त गाइडलाइन के साथ खुलेंगे सिनेमाघर

फरवरी से खुलेंगे सिनेमाघर, नई गाइडलाइन का सख्ती से करना होगा पालन 
कविता गर्ग
मुंबई। थिएटर में फिल्म देखने के शौकीन लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी है। कि अब देश में 1 फरवरी से सभी सिनेमाघर और मल्टीप्लेक्स पूरी क्षमता के साथ खोल दिए जाएंगे। हालांकि इस संबंध में सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा नई गाइडलाइन भी जारी की गई है। जिसे सख्ती से पालन करना जरूरी होगा। केंद्रीय गृह मंत्रालयन ने भी शनिवार को देश के सभी सिनेमा हॉल को 1 फरवरी से 100 फीसदी क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दे दी है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सिनेमाघरों के लिए नई गाइड लाइन का प्रारुप भी जारी कर दिया है।
नई गाइडलाइन के तहत इन नियमों का करना होगा पालन।
सार्वजनिक स्थान पर थूकना सख्त मना है।
सिनेमाघर में प्रवेश के दौरान मास्क लगाना अनिवार्य है।
सभी दर्शकों के स्वास्थ्य की स्व-निगरानी करना और बीमारी की स्थिति में जल्द से जल्द हेल्पलाइन पर रिपोर्ट करना।
दर्शकों के मोबाइल में आरोग्य सेतु ऐप को इंस्टाल और उपयोग सभी को सलाह देना।
सिनेमाघरों और वेटिंग क्षेत्र के बाहर 6 फीट की भौतिक दूरी का अनिवार्य पालन
पहले 50 फीसदी क्षमता के साथ खोलने की दी थी अनुमति
गौरतलब है। कि केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने पहले सिनेमाघरों को 50 फीसदी क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दे दी थी। लेकिन अब मंत्रालय ने 100 फीसदी क्षमता के साथ मल्टीप्लेक्स व सिनेमाघरों को खोलने की अनुमति दे दी है। फिल्म वितरकों और थिएटर मालिकों ने सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है। गौरतलब है कि बीते साल मार्च से ही देश में सिनेमाघर बंद थे। जो अक्टूबर तक नहीं खुले थे। अक्टूबर में सरकार ने कुछ नियमों के साथ 50 फीसदी क्षमता के साथ सिनेमाघरों को खोलने की अनुमति दे दी थी।

आंदोलन: पीएम मोदी के बयान पर बोले नरेश टिकैत

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। किसान नेता नरेश टिकैत ने रविवार को कहा कि नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गरिमा का सम्मान करेंगे। वे अपने आत्म-सम्मान की रक्षा के लिए भी प्रतिबद्ध हैं। नरेश टिकैत का यह बयान ऐसे समय आया है, जब प्रधानमंत्री ने कहा कि कि सरकार से किसानों की बातचीत में महज ‘‘एक फोन कॉल की दूरी’’ है। ढटिकैत ने कहा कि सरकार को ‘‘हमारे लोगों को रिहा करना चाहिए और वार्ता के अनुकूल माहौल तैयार करना चाहिए।’’ उन्होंने दिल्ली और उत्तर प्रदेश के बीच गाजीपुर सीमा पर कहा, ‘‘एक सम्मानजनक स्थिति पर पहुंचा जाना चाहिए। हम दबाव में कुछ भी स्वीकार नहीं करेंगे।’’

भारत में कोरोना रिकवरी दर 97 प्रतिशत के करीब

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण की मंद पड़ती रफ्तार के बीच इस महामारी को मात देने वालों की संख्या में लगातार वृद्धि से रिकवरी दर बढ़कर 97 प्रतिशत के करीब पहुंच गयी है वहीं सक्रिय मामलों में गिरावट का सिलसिला जारी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से रविवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में संक्रमण के 13,052 नये मामले सामने आये जिससे संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ सात लाख 46 हजार से अधिक हो गया है। इसी दौरान 13,965 मरीज स्वस्थ हुए जिसके साथ कोरोनामुक्त होने वालों की संख्या एक करोड़ चार लाख 23 हजार 125 हो गयी और रिकवरी दर 96.99 हो गयी है। वहीं सक्रिय मामले 1040 कम होकर 1.68 लाख रह गये हैं। इसी अवधि में 127 मरीजों की मौत हो गयी और मृतकों का आंकड़ा एक लाख 54 हजार 274 हो गया। देश में सक्रिय मामलों की दर घटकर 1.57 फीसदी रह गयी है जबकि मृत्युदर अब भी 1.44 प्रतिशत है।

मदन भैया ने किसानों को दिया समुदाय का समर्थन

अश्वनी उपाध्याय   

गाजियाबाद। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाने माने गुर्जर नेता मदन भैया ने तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ जारी प्रदर्शन में भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) को अपने समुदाय का समर्थन दिया। मदन भैया ने किसी का नाम लिए बिना लोनी से भाजपा के विधायक नंद किशोर गुर्जर पर शनिवार को निशाना साधते हुए कहा कि वह ‘‘किसान विरोधी कार्यों’’ में संलिप्त हैं। किसानों ने नंद किशोर पर आरोप लगाया है कि उन्होंने 26 जनवरी को गाजीपुर प्रदर्शन स्थल पर हुई हिंसा का षड्यंत्र रचा। नंद किशोर ने इन आरोपों को खारिज किया है। मदन भैया ने कहा कि किसान अपनी मांग को लेकर ठंड के बावजूद दिल्ली की सीमाओं पर दो महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं और उनका आंदोलन गैर राजनीतिक एवं शांतिपूर्ण है।

उत्तराखंड: बगीचे में घुसा हाथी, पल भर में हुई मौत

पंकज कपूर   

देहरादून। उत्तराखंड के रामनगर क्षेत्र में एक बगीचे में हुई हाथी की मौत से वन विभाग में हड़कंप मच गया बताया जा रहा है कि यह घटना रामनगर के ग्राम गोजानी क्षेत्र की है। हाथी की उम्र लगभग 40 साल के आसपास बताई जा रही है और शनिवार की रात को यह हाथी चोरपानी में बिजरानी क्षेत्र के जंगल से निकलकर आया वहां ग्रामीणों ने हो-हल्ला कर वहां से भगा दिया था। जिसके बाद यह हाथी गुजानी इलाके में कैलाश तिवारी के बगीचे में जा घुसा। जैसे ही हाथी बगीचे में आया तो बगीचे में चौकीदार झोपड़ी बनाकर बाहर तार डालकर बल्ब जलाया हुआ था। साथ ही आम के इस बगीचे में गेहूं बोये हुए थे जिसमें पानी लगा हुआ था। हाथी बगीचे में घुसा तो उसने अपनी सूट से बल्ब लगे तार को जैसे ही तोड़ा तो नीचे तार टूट कर पानी में जा गिरा और पानी में करंट दौड़ पड़ा जिससे हाथी करंट की चपेट में आ गया और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। इस दौरान हाथी की चीख सुन ग्रामीण भी मौके पर एकत्र हो गए जिसके बाद वन विभाग के अधिकारियों को इसकी जानकारी दी गई।

मुरादाबाद: गैस का टैंक फटने से 2 की दर्दनाक मौत

काशीपुर। मुरादाबाद रोड पर स्थित नैनी पेपर मिल में गैस का टैंक फटने से दो व्यक्तियों की दर्दनाक मौत हो गई। अचानक हुए धमाके से फैक्ट्री में कार्य कर रहे मजदूरों तथा कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। सूचना पर पहुंची सूर्या चौकी पुलिस ने मृतकों के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बता दें कि घटना रात्रि 3:15 बजे की है बताया जाता है कि राहुल 27 वर्ष पुत्र महाराज सिंह ग्राम फतनपुर जहांगीरपुर थाना डिलारी जिला मुरादाबाद निवासी।जबकि दूसरा व्यक्ति  प्रताप सिंह पुत्र रिचपाल सिंह निवासी रोहतक रोड शिवराम पुरम मेरठ बताया जा रहा है सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राहुल नैनी पेपर मिल में 2 वर्ष पूर्व से कार्य कर रहा था। जबकि प्रताप सिंह 1 वर्ष पूर्व से कार्य करता था फैक्ट्री प्रबंधन के द्वारा दोनों मृतकों के परिजनों को घटना की जानकारी दे दी गई है। बताया जाता है कि दोनों व्यक्ति गैस के टैंक पर कार्य कर रहे थे जिस समय गैस का टैंक फटा जिससे दोनों की दर्दनाक मौत हुई। सूचना पर पहुंचे सूर्या चौकी प्रभारी विनय मित्तल ने मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

प्रोफेसर-असिस्टेंट प्रोफेसर समेत कई पदों पर भर्ती

वाशिंगटन डीसी। विश्व भारती शांतिनिकेतन ने एक साथ कई पदों पर भर्तीयां निकाली हैं। जिसके लिए एक अच्छी सैलरी भी तय की गई है। आवेदनकर्ताओं को तय  तारीख तक आवेदन करने के निर्देश दिए गए है। दरअसल, 106 पदों पर ये भर्तियां निकाली गई हैं। जिसमें प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों पर नियुक्तियां की जाएंगी। इन पदों के लिए आधिकारीक वेबसाइट visvabharati.ac.in से जानकारी जुटाई जा सकती है। विश्व भारती शांति निकेतन द्वारा निकाली गई इन भर्तियों को लेकर आवेदनकर्ताओं को 27 फरवरी, 2021 तक आवेदन करना होगा। तय तारीख के बाद किसी भी रूप में आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे।

तिरंगे के अपमान से मन दुखी हुआ 'मन की बात'

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देखकर देश बहुत दुखी हुआ। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति द्वारा संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करने के बाद बजट सत्र भी शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस महीने क्रिकेट पिच से भी बहुत अच्छी खबर मिली। उन्होंने कहा कि भारत अपनी आजादी के 75 वर्ष का समारोह अमृत महोत्सव शुरू करने जा रहा है। प्रधानमंत्री ने ने कहा कि मेड इन इंडिया वैक्सीन से भारत का आत्मगौरव बढ़ा है और ये आत्मनिर्भर भारत के प्रतीक हैं। उन्होंने कहा कि सरकार खेती को आधुनिक बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। भारत से हजारों किलोमीटर दूर, कई महासागरों, महाद्वीपों के पार एक देश है, जिसका नाम है चिली। भारत से चिली पहुंचने में बहुत अधिक समय लगता है, लेकिन भारतीय संस्कृति की खुशबू वहां बहुत समय पहले से ही फैली हुई है।कॉलेज के रास्ते में भाग्यश्री को ये सॉफ्ट स्टोन्स मिले, उन्होंने, इन्हें एकत्र किया और साफ किया। उन्होंने रोजाना दो घंटे इन पत्थरों पर पट्टचित्र स्टाइल में पेंटिंग की। कुछ दिन पहले ही, सुभाष बाबू की जयंती पर भाग्यश्री ने पत्थर पर ही उन्हें अनोखी श्रद्धांजलि दी।

खेती को आधुनिक बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है और अनेक कदम उठा भी रही है। सरकार के प्रयास आगे भी जारी रहेंगे। 
इसी क्रम में मुझे पश्चिम बंगाल से जुड़ी एक बहुत अच्छी पहल के बारे में जानकारी मिली, जिसे, मैं, आपसे साथ जरुर साझा करना चाहूंगा।मपर्यटन मंत्रालय के रीजिनल ऑफिस ने महीने के शुरू में ही बंगाल के गांवों में एक इनक्रेडिबल इंडिया वीकेंड गेटअवे की शुरुआत की।
कुछ ही दिन पहले मैंने एक वीडियो देखा। वह वीडियो पश्चिम बंगाल के वेस्ट मिदनापुर स्थित ‘नया पिंगला’ गांव के एक चित्रकार सरमुद्दीन का था। वो प्रसन्नता व्यक्त कर रहे थे कि रामायण पर बनाई उनकी पेंटिंग दो लाख रुपये में बिकी है। इससे उनके गांववालों को भी काफी खुशी मिली है।
अब बुंदेलखंड में स्ट्रॉबेरी की खेती को लेकर उत्साह बढ़ रहा है, और इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभाई है, झांसी की एक बेटी- गुरलीन चावला ने। लॉ की छात्रा गुरलीन ने पहले अपने घर पर और फिर अपने खेत में स्ट्रॉबेरी की खेती का सफल प्रयोग कर ये विश्वास जगाया है कि झांसी में भी ये हो सकता है।

पिछले दिनों झांसी में एक महीने तक चलने वाला ‘स्ट्रॉबेरी फेस्टिवल’ शुरू हुआ। हर किसी को आश्चर्य होता है- स्ट्रॉबेरी और बुंदेलखंड, लेकिन, यही सच्चाई है।
कुछ दिन पहले आपने देखा होगा, अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से बंगलूरू के लिए एक नॉन स्टॉप फ्लाइट की कमान भारत की चार वूमेन पायलट्स ने संभाली। दस हजार किलोमीटर से भी ज्यादा लंबा सफर तय करके ये फ्लाइट सवा दो-सौ से अधिक यात्रियों को भारत लेकर आई।
पर्यावरण की रक्षा से कैसे आमदनी के रास्ते भी खुलते हैं, इसका एक उदाहरण अरुणाचल प्रदेश के तवांग में भी देखने को मिला। इस पहाड़ी इलाके में सदियों से ‘मोन शुगु’ नाम का एक पेपर बनाया जाता है। इसके लिए पेड़ों को नहीं काटना पड़ता है
11:26 AM, 31-JAN-2021
बोयिनपल्ली में फेंकी हुई सब्जियं से बनती है बिजली
बोयिनपल्ली सब्जी मंडी में हर रोज बेकार बची हुई सब्जियों से व्यापारियों द्वारा बिजली बनाने की पहल ‘इनोवेशन’ की ताकत है।
हैदराबाद के बोयिनपल्ली में, एक स्थानीय सब्जी मंडी, किस तरह, अपने दायित्व को निभा रही है, ये पढ़कर भी मुझे बहुत अच्छा लगा। बोयिनपल्ली की सब्जी मंडी तय किया है कि बचने वाली सब्जियों को ऐसे फेंका नहीं जाएगा, इससे बिजली बनाई जाएगी।
मन की बात कार्यक्रम देशवासियों से जुड़ने का एक बेहतर अवसर है जिसमें देश के प्रति लोगों का जज्बा और जूनून है, प्रेरणादायक हैं जो मुझे ऊर्जा से भर देते हैं। 
पर्यावरण की रक्षा से कैसे आमदनी के रास्ते भी खुलते हैं, इसका एक उदाहरण अरुणाचल प्रदेश के तवांग में भी देखने को मिला। इस पहाड़ी इलाके में सदियों से ‘मोन शुगु’ नाम का एक पेपर बनाया जाता है। इसके लिए पेड़ों को नहीं काटना पड़ता है और यहां के आदिवासी भाई-बहनों को रोजगार भी मिल रहा है।
हैदराबाद के बोयिनपल्ली में, एक स्थानीय सब्जी मंडी, किस तरह, अपने दायित्व को निभा रही है,ये पढ़कर भी मुझे बहुत अच्छा लगा। हम सबने देखा है कि मंडियों में अनेक वजहों से सब्जियां खराब हो जाती हैं, लेकिन बोयिनपल्ली की सब्जी मंडी तय किया है कि बचने वाली सब्जियों को ऐसे फेंका नहीं जाएगा।
यंग राइटर्स के लिए इंडिया सेवेंटी फाइव के निमित्त एक इनिशिएटिव शुरू किया जा रहा है। इससे सभी राज्यों और भाषाओं के युवा लेखकों को प्रोत्साहन मिलेगा।
इस वर्ष से भारत अपनी आजादी के 75 वर्ष का समारोह– ‘अमृत महोत्सव’ शुरू करने जा रहा है।
11:20 AM, 31-JAN-2021
संकट के समय भारत दुनिया की सेवा कर रहा है
भारत के हर हिस्से में, हर शहर, कस्बे और गांव में आजादी की लड़ाई पूरी ताकत के साथ लड़ी गई थी। भारत भूमि के हर कोने में ऐसे महान सपूतों और वीरांगनाओं ने जन्म लिया, जिन्होंने राष्ट्र के लिए अपना जीवन न्योछावर कर दिया।
संकट के समय में भारत, दुनिया की सेवा इसलिए कर पा रहा है, क्योंकि भारत आज दवाओं और वैक्सीन को लेकर सक्षम है, आत्मनिर्भर है।
देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद के पैतृक निवास में मिली ऐतिहासिक तस्वीरें और पुस्तकें प्रेरणादायी हैं।

11:16 AM, 31-JAN-2021
मेड इन इंडिया वैक्सीन गर्व की बात है
भारत आज दवाओं और वैक्सीन को लेकर सक्षम है, आत्मनिर्भर है। यही सोच आत्मनिर्भर भारत अभियान की भी है। भारत जितना सक्षम होगा, उतनी ही अधिक मानवता की सेवा करेगा, उतना ही अधिक लाभ दुनिया को होगा।
विभिन्न देशों में भेजे गए ‘मेड इन इंडिया वैक्सीन’ के लिए उन देशों के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्रियों के भेजे गए प्रशंसा भरे संदेश, देश के लिए गर्व की बात।
‘मेड इन इंडिया वैक्सीन’ आज भारत की आत्मनिर्भरता का तो प्रतीक है ही, भारत के आत्मगौरव का भी प्रतीक है
आप जानते हैं, और भी ज्यादा गर्व की बात क्या है? हम सबसे बड़े वैक्सीन प्रोग्राम के साथ ही दुनिया में सबसे तेज गति से अपने नागरिकों का वैक्सीनेशन भी कर रहे हैं।
11:12 AM, 31-JAN-2021
हमारा वैक्सीनेशन प्रोग्राम भी दुनिया में मिसाल बन रहा है
इस साल की शुरुआत के साथ कोरोना के खिलाफ लड़ाई को भी करीब-करीब एक साल पूरा हो गया है। जैसे कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई उदाहरण बनी है। वैसे ही अब हमारा वैक्सीनेशन प्रोग्राम भी दुनिया में एक मिसाल बन रहा है। आज भारत दुनिया का सबसे बड़ा कोविड वैक्सीन प्रोग्राम चला रहा है।
राष्ट्र ने असाधारण कार्य कर रहे लोगों को उनकी उपलब्धियां और मानवता के प्रति उनके योगदान के लिए सम्मानित किया। इस साल भी पुरस्कार पाने वालों में, वे लोग शामिल हैं जिन्होंने अलग-अलग क्षेत्रों में बेहतरीन काम किया है।
राष्ट्रपति जी द्वारा संसद के संयुक्त सत्र को सम्बोधन के बाद ‘बजट सत्र’ भी शुरू हो गया है। इन सभी के बीच एक और कार्य हुआ, जिसका हम सभी को बहुत इंतजार रहता है- ये है पद्म पुरस्कारों की घोषणा।
इन सबके बीच, दिल्ली में, 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देख, देश, बहुत दुखी भी हुआ। हमें आने वाले समय को नई आशा और नवीनता से भरना है। हमने पिछले साल असाधारण संयम और साहस का परिचय दिया। इस साल भी हमें कड़ी मेहनत करके अपने संकल्पों को सिद्ध करना है।
इस महीने, क्रिकेट पिच से भी बहुत अच्छी खबर मिली। हमारी क्रिकेट टीम ने शुरुआती दिक्कतों के बाद, शानदार वापसी करते हुए ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती। हमारे खिलाड़ियों का हार्ड वर्क और टीमवर्क प्रेरित करने वाला है। कुछ दिन पहले की ही तो बात लगती है जब हम एक दूसरे को शुभकमनाएं दे रहे थे, फिर हमने लोहड़ी मनाई, मकर संक्रांति मनाई, पोंगल, बिहु मनाया। देश के अलग-अलग हिस्सों में त्योहारों की धूम रही।
जब मैं ‘मन की बात’ करता हूं तो ऐसा लगता है, जैसे आपके बीच, आपके परिवार के सदस्य के रूप में उपस्थित हूं। हमारी छोटी-छोटी बातें, जो एक-दूसरे को, कुछ, सिखा जाये, जीवन के खट्टे-मीठे अनुभव जो, जी-भर के जीने की प्रेरणा बन जाये – बस यही तो है ‘मन की बात’।
कार्यक्रम की शुरुआथ करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब मैं आपसे मन की बात करता हूं ऐसा लगता है कि मैं आपके परिवार का सदस्य हूं। इसके जरिए मुझे आपके बीच होने का अहसास होता है। लग ही नहीं रहा है कि साल का पहला महीना बीत गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के जरिए देशवासियों को संबोधित कर रहे हैं। इस कार्यक्रम को आप आकाशवाणी पर लाइव सुन सकते है। प्रधानमंत्री मोदी के ट्विटर पेज और भाजपा के ट्विटर और फेसबुक पेज के जरिए भी आप इसे सुना सकते हैं।

पूर्व विधायक दौलतपुरिया ने छोड़ी भाजपा, फैसला

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। किसान आंदोलन के पक्ष में और भाजपा कृषि कानूनों के खिलाफ नेताओं का पार्टी छोड़ने का सिलसिला जारी है। अब फतेहाबाद के पूर्व विधायक एवं भाजपा नेता बलवान दौलतपुरिया ने भाजपा का दामन छोड़ दिया है। इसको लेकर दौलतपुर में हुई  रविवार को पंचायत में यह घोषणा की गई। दौलतपुर के चौक में हुई महापंचायत में गाड़ी से पूर्व विधायक ने भाजपा की झंडी उतार दी। बताया जा रहा है कि पूर्व विधायक अभी किसी पार्टी में नहीं जा रहे, फिलहाल किसानों के साथ रहेंगे। पार्टी छोड़ने के साथ ही उन्होंने भाजपा पर किसान आंदोलन को तोड़ने का आरोप लगाया और कहा कि किसान आंदोलन को तोडने का काम पार्टी कर रही हैं, इसको देखकर मेरे से रहा नहीं गया और किसान भाइयों और किसानी के लिए पार्टी को छोड़ रहा हूं। अगर किसानी बचेगी, भाईचारा बचेगा तो ये देश बचेगा औऱ प्रदेश बचेगा।

सिद्धू की गिरफ्तारी के लिए पंजाब पहुंची पुलिस टीमें

राणा ओबराय    

चंडीगढ़। 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल क़िले पर लोगों को उकसाने के मुख्य आरोपी बताए जाने वाले दीप सिद्धू को गिरफ्तार करने के लिए दिल्ली पुलिस की दो टीमें पंजाब के लिए रवाना हो गई हैं। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, क्राइम ब्रांच की एक टीम पहले ही पंजाब में मौजूद है, जो अलग-अगल जगहों पर रेड कर दीप सिद्घू की तलाश कर रही है। ऐसे में दिल्ली पुलिस की दो अन्य टीमें पंजाब के लिए रवाना होना सिद्धू के लिए मुश्किलें बढ़ने का संकेत है। अधिकारियों के अनुसार, बहुत जल्द दीप सिद्धू को गिरफ्तार कर दिल्ली लाया जाएगा।

हुड्डा के अविश्‍वास प्रस्‍ताव की तैयारी को झटका

अकांशु उपाध्याय    
नई दिल्ली। किसान आंदोलन के बीच विपक्ष के हमलावर होने से डिफेंसिव मोड में आई सरकार अब विधानसभा में संख्याबल के हिसाब से मजबूत हो गई है। पूर्व मुख्‍यमंत्री व कांग्रेस विधायक दल के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा की भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाने ही तैयारियों को झटका लगा है। दो सीटें ऐलनाबाद व कालका खाली हो जाने से विधानसभा में विपक्ष का संख्‍या बल और घट गया है। दो सीटें खाली हो जाने के बाद वर्तमान में हरियाणा विधानसभा में कुल 88 विधायक रह गए हैं। मनोहरलाल सरकार के पास अभी 56 विधायकों का समर्थन है। ऐसे में सरकार को कोई खतरा नहीं दिख रहा है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...