रविवार, 29 मार्च 2020

दो दिवसीय दौरे पर गृहमंत्रीः ओड़ीशा

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह दो दिवसीय दौरे पर ओडिशा पहुंच रहे हैं। शाह आज शाम चार बजे भुवनेश्वर के जनता मैदान में एक बड़ी जनसभा को संबोधित करेंगे। भाजपा की यह रैली नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के पक्ष में की जा रही है। रैली से पहले शाह भुवनेश्वर में ईस्टर्न जोनल काउंसिल की बैठक की अध्यक्षता करेंगे।


ईस्टर्न जोनल काउंसिल की बैठक भुवनेश्वर के लोक सेवा कन्वेंशन सेंटर में हो रही है। इस बैठक में पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड और ओडिशा के मुख्यमंत्री के अलावा राज्यों के वरिष्ठ अधिकारी भाग लेंगे। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से अधिकारियों की बड़ी टीम हिस्सा ले रही है। बताया गया है कि बैठक में अंतराज्यीय मुद्दों के अलावा विकास, केंद्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन पर चर्चा होगी। बैठक में खासतौर पर रेल परियोजनाओं, आपदा प्रबंधन के लिए ढांचागत विकास तैयार करना, कोयले की रॉयल्टी, ग्राम पंचायतों को धन मुहैया कराना, डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर स्कीम, आधार कार्ड का डाटाबेस तैयार करना, टेलीकॉम और इंटरनेट कनेक्टिविटी संबंधित मुद्दों पर चर्चा होगी। इस बैठक में जीएसटी कलेक्शन और समयबद्ध तरीके से केंद्र द्वारा राज्यों को धन मुहैया कराने संबंधी मुद्दों पर भी विस्तार से चर्चा हो सकती है। स्टंट जोनल काउंसिल की बैठक के बाद गृह मंत्री अमित शाह 29 फरवरी को महाप्रभु लिंगराज का दर्शन करने जाएंगे। इसी दिन शाह का पुरी जाकर महाप्रभु श्री जगन्नाथ जी का दर्शन करने का भी कार्यक्रम है। शाह आज देर रात ओडिशा भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से भी मुलाकात करेंगे। इससे पहले गुरुवार को ओडिशा भाजपा की कोर ग्रुप की बैठक हुई थी, जिसकी अध्यक्षता राज्य के प्रभारी भाजपा महासचिव अरुण सिंह ने की थी।


ओडिशा में बनेंगे दो बड़े अस्पताल

भुवनेश्वर। ओडिशा सरकार कोरोना वायरस ‘कोविड-19′ के संक्रमण से निपटने के लिए देश के सबसे बड़े दो अस्पतालों की स्थापना करेगी जिनमें 1000 बिस्तर होंगे। राज्य सरकार ने अस्पतालों को चलाने के लिए गुरुवार को केआईएमएस और एसयूएम अस्पतालों तथा परियोजना के लिए धन जुटाने के वास्ते दो सरकारी कंपनियों ओडिशा माइनिंग कॉरपोरेशन (ओएमसी) और महानदी कोलफील्ड लिमिटेड (एमसीएल) के साथ करार किया।


सरकार ने कोरोना पीड़ितों के इलाज के लिए 10000 बिस्तरों वाला अस्पताल बनाने के वास्ते दोनों अस्पतालों के साथ त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए। ओएमसी और एमसीएल इस अस्पताल के लिए सीएसआर फंड प्रदान करेंगे। पहले समझौते के तहत राज्य स्वास्थ्य सचिव निकुंज धल, ओएमसी प्रबंध निदेशक विनील कृष्णा और केआईएमएस प्रबंधन ने 450 बिस्तरों का अस्पताल स्थापित करने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। दूसरा समझौता 500 बिस्तरों वाले अस्पताल की स्थापना के लिए स्वास्थ्य सचिव, एमसीएल के एस एस पांडा तथा एसयूएम अस्पताल प्रबंधन के बीच हुआ। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भागीदारों को बधाई दी और जनहित में आगे आकर काम करने के लिए ओएमसी और एमसीएल को धन्यवाद दिया। इस बीच सीएम पटनायक ने अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अपील की कि 21 दिन के लॉकडाउन के कारण उनके राज्य में फंसे ओडिशा के लोगों की सहायता करें और उन्हें भोजन, आवास और सुरक्षा मुहैया करायें। उन्होंने सभी मुख्यमंत्रियों को संबोधित एक पत्र में कहा,“मैं आप सभी से अपील करता हूं कि आपके राज्य के किसी भी हिस्से में फंसे ओडिशा के किसी भी व्यक्ति या समूह को कृपया भोजन, आवास और सुरक्षा संबंधी सहायता प्रदान करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें सुरक्षित रखने पर जो भी खर्च होगा, वह ओडिशा सरकार उठायेगी। उन्होंने कहा कि यदि यह संदेश सभी जिलाधिकारियों तक पहुंचा दिया जाता है तो वह इसके लिए आभारी होंगे।


27 लोगों की मौत, 1024 संक्रमित

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से अब तक 27 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1024 हो गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की रविवार रात की रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस का प्रकोप देश के 27 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में फैल चुका है और अब तक इसके 1024 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इनमें 48 विदेशी मरीज भी शामिल हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण से देशभर में अब तक 27 लोगों की मौत हुई है जबकि 96 लोग स्वस्थ हो चुके हैं।


केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तेलंगाना, गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में अभी तक सबसे अधिक संक्रमण के मामले सामने आये हैं। कोरोना महामारी से महाराष्ट्र में छह, गुजरात में चार, कर्नाटक में तीन, दिल्ली में दो, मध्य प्रदेश में दो, केरल, बिहार , पंजाब, हिमाचल प्रदेश, तेलंगाना, जम्मू-कश्मीर, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में एक-एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है।


सोशल-डिस्टेंसिंग का भी रखा ख्याल

गोरखपुर। गोला थाना क्षेत्र में अयोध्या से पैदल आ रहे लोगो को भोजन करवाया गया और फल बिस्किट का वितरण भी किया गया। सोशल डिस्टेंसिंग का भी रखा गया ख्याल गोला थाने पर तैनात उपनिरीक्षक गोपाल यादव और उनके हमराहियों ने अयोध्या से पैदल चल कर आ रहे दिहाड़ी मजदूर जो बलिया तक जाने वाले थे। उनको रास्ते में रोक के उनका हाथ दिलवाया उनको सैनिटाइजर दिया फिर उसके बाद भोजन कराया गया और फिर फल वितरित किया गया।


 हरीश पांडेय


एक-दूसरे की भूख-प्यास का ख्याल

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। कोविड-19 कोरोना वायरस को मद्देनज़र रखते सरकार द्वारा लॉकडाउन/जनता कर्फ्यू जारी है। लॉकडाउन के अंतर्गत लोग-बाग अपने-अपने घरों में बैठकर कोरोना वायरस के संक्रमण की साइकिल को तोड़ रहे हैं, जोकि मानव जाति के लिए बहुत ही जरूरी है। आपको बता दें कि कोरोना वायरस ने पूरे विश्व में अपने पैर पसार लिए हैं, और उसका प्रकोप भारत के विभिन्न राज्यों और शहरों में भी देखने को मिल रहा है।


जिसके चलते केंद्रीय और राज्य सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुकूल लॉकडाउन/जनता कर्फ्यू जारी किया गया है, जोकि फिलहाल 21 दिनों का है। सरकार द्वारा लॉकडाउन के नियमों का पूरा भारत मिलकर एक साथ लड़ाई लड़ रहा है और कोरोना वायरस के इस संक्रमण तोड़ने के लिए अपने-अपने घरों में शान्ति से लॉक हुए बैठे हैं।आपको बता दें कि लॉकडाउन के अंतर्गत श्रमिकों/मजदूरों का बहुत ही बुरा हाल हो रहा है और वह भूखे-प्यासे किसी तरह अपना समय गुजार रहे हैं। गौरतलब है कि गरीब-गुरबा लोगों की भूख और प्यास को मद्देनज़र रखते थाना मुरादनगर क्षेत्र के समाजसेवियों ने मिलकर पुलिस-प्रशासन द्वारा थाना मुरादनगर में पंद्रह सो लोगों को भोजन और राशन वितरित किया है, जोकि ग्राम बसंतपुर सैंतली, पाइपलाइन, ईदगाह बस्ती आदि के रहने वाले लोग हैं। इतना ही नहीं, थाना मुरादनगर प्रभारी निरीक्षक ओमप्रकाश सिंह अपने थानाक्षेत्र में सक्रिय हैं और उनकी नज़र गरीबों पर बराबर बनी हुई है। दरअसल, प्रभारी निरीक्षक आए-दिन गरीब-गुरबा लोगों को भूख और प्यास से निजात दिलाने में लगे हुए हैं। इसके अलावा नगर के गणमान्य व्यक्ति भी गरीबों की भूख और प्यास मिटाने के लिए के जगह-जगह खाना व राशन वितरित कर रहे हैं। बता दें कि लोग-बाग एक के बाद एक डिस्टेंस के अनुसार अपना-अपना राशन ले रहे है और पुलिस-विभाग व सामान्य व्यक्तियों का तहेदिल से शुक्रिया अदा कर रहे हैं।


राज्य-जिले के बॉर्डर पूरी तरह सील

नई दिल्ली। केंद्र ने कहा है कि राज्य और जिले के बॉर्डर पूरी तरह से सील किये जाएं, ताकि एक राज्य से दूसरे राज्य में और एक जिले से दूसरे जिले में लोगों की मूवमेंट न हो पाए।हाईवे पर किसी तरह की मूवमेंट न होने दी जाए, सड़कों पर सिर्फ सामान ढोने वाले गाड़ियों की आवाजाही की अनुमति होगी। केंद्र ने कहा है कि लॉकडाउन लागू कराना जिले के डीएम और एसपी की जिम्मेदारी है।


केंद्र सरकार ने राज्यों को सख्ती से लॉकडाउन पालन कराने का निर्देश दिया है। केंद्र ने राज्यों को कहा है कि प्रवासी मजदूरों के लिए सभी इंतजाम किए जाएं, जहां वे मौजूद हैं। केंद्र ने कहा कि मजदूरों को वक्त पर वेतन दिया जाए। जीओविटी ने कहा है कि अगर कोई छात्रों और मजदूरों को घर खाली करने कहता है तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। केंद्र ने कहा है कि राज्य और जिले के बॉर्डर पूरी तरह से सील किये जाएं, ताकि एक राज्य से दूसरे राज्य में और एक जिले से दूसरे जिले में लोगों की मूवमेंट न हो पाए। हाईवे पर किसी तरह की मूवमेंट न होने दी जाए, सड़कों पर सिर्फ सामान ढोने वाले गाड़ियों की आवाजाही की अनुमति होगी।केंद्र ने कहा है कि लॉकडाउन लागू कराना जिले के डीएम और एसपी की जिम्मेदारी है। सख्ती से हो लॉकडाउनः लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के लिए लिए 29 मार्च को केंद्र सरकार द्वारा कई महत्वपूर्ण कदम उठाये गए हैं। केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों से कहा कि लॉक डाउन का सख्ती से पालन किया जाए। सभी राज्यों, केंद्र शासित प्रदेश के डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी की तरफ से कहा गया है कि जरूरी वस्तुओं की सप्लाई फिलहाल सुनियोजित ढंग से आम जनता तक पहुंचाया जाए। सील हो जिले और राज्यों के बॉर्डरः दिहाड़ी मजदूरों के सड़को पर मूवमेंट को देखते हुए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि बॉर्डर को पुख्ता तरीके से सील किया जाए। जिले और राज्यों की सीमा भी सील हो। स्थानीय प्रशासन यह सुनिश्चित करें की हाईवे पर सिर्फ जरूरी वस्तुओं के वाहनों का ही मूवमेंट हो। प्रशासन कराए खाने-पीने की व्यवस्थाः देश के जिस भी कोने में मजदूर हो उनके खाने-पीने की उचित व्यवस्था स्थानीय प्रशासन कराएं, साथ ही प्रशासन यह भी सुनिश्चित करें कि मजदूरों पर उनके मकान मालिक किराया वसूलने का दबाव न डालें। केंद्र ने कहा है कि जिन्होंने भी लॉक डाउन का उल्लंघन किया है उन्हें सरकार की तरफ से मुहैया करवाई गई 14 दिन की क्वॉरेंटाइन फैसिलिटी में रखा जाए। इस बाबत विस्तृत आदेश सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश को दे दिए गए हैं।डीएम और एसपी की जिम्मेदारीः केंद्र सरकार की तरफ से सभी जिलों के डीएम और एसपी को निर्देश दिए गए हैं कि लॉक डाउन को सख्ती से पालन कराएं साथ ही जो आवश्यक सामग्री है उसकी किसी भी जगह कमी ना हो इसका भी ध्यान रखा जाए।


राहगीरों से ठहरने का अनुरोध

सददाम हुसैन


 हरिद्वार। देश में करोना वायरस की खबर फैलने से पूरे देश के लोग दहशत में जी रहे हैं। वहीं पूरे देश में लोक डाउन हो जाने से बाहरी राज्यों के लोग इस महामारी से परेशान है और इस परेशानी के चलते अपने अपने राज्यों को जाने का प्रयास कर रहे है।


गरीब व मजदूर लोगो को आज रोटारेक्ट क्लब ओआईएमटी ऋषिकेश ने हरिद्वार में भटक रहे लोगों को भोजन वितरण किया और लोगों से गुजारिश कि इस महामारी के संकट में यदि आप लोग अपने घरों से निकल कर सड़को पर निकलो गए तो ऐसी परिस्थिति में इस महामारी जैसी बीमारी का खतरा बढ़ने की सम्भावना है। ऐसे में आप सभी लोग अपने कमरों में वापस लौट जाए। जिससे आप लोगों को परेशानियों का सामना भी नहीं करना पड़ेगा भोजन वितरण करने में रजत मित्तल, प्रतीक वर्मा, अमन मित्तल, मोनू शर्मा, बसंत पांडे, गिरिजेश त्रिपाठी पुलिस सहभागी।


नगर मंत्री ने गरीबों को खिलाया भोजन

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर पिलखुआ, रिंकू सैनी रिपोर्टर 


भाजपा नगर मंत्री ने गरीबों को खिलाया भोजन 


हापुड़। लॉक डाउन के पांचवें दिन भाजपा के नगर मंत्री अमित त्यागी के नेतृत्व में आम जनमानस को खाने की व्यवस्था की गई। अमित त्यागी ने बताया कि उनके द्वारा आज स्वर्ग आश्रम रोड, केशव नगर में मजदूरों व बेलदार ओ को खाना दिया गया दोमीयी पर साईं मंदिर वह बुलंदशहर रोड पर स्थित मोती कॉलोनी में भी भाजपा कार्यकर्ताओं ने गरीबों को खाना वितरित किया गया। अमित त्यागी ने बताया कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के आदेश अनुसार उनके द्वारा यह व्यवस्था कि गयी हैं। शीर्ष नेतृत्व ने कहा है कि  भाजपा कार्यकर्ता अपने  अपने खर्चों पर जो हो सके वह व्यवस्था करें कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे  उन्हीं के आदेश अनुसार उनके द्वारा ऐसे गरीब व्यक्ति जिनके घरों में वास्तव में खाने की व्यवस्था नहीं है। उन लोगों को भाजपा कार्यकर्ता द्वारा खाने का बंदोबस्त किया जा रहा है। इस अवसर पर उनके साथ अमित कुमार द्विवेदी, सोनू शर्मा, जगन्नाथ सिंह, विकास कुमार व भाजपा के  अनेकों नेता उपस्थित रहे। खाना पाकर लोगों ने भाजपा कार्यकर्ताओं का शुक्रिया अदा किया तथा कहा कि वे लोग भाजपा कार्यकर्ताओं के आभारी रहेंगे।


अधिकारी हुए अलर्ट, 24 घंटे काम

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर पिलखुआ


हापुड़ के अधिकारी अलर्ट, दिन निकलते ही पहुंचे टोल प्लाजा पर 24 घंटे काम कर रही है पुलिस मजबूर लोगों को उनके घर तक पहुंचाने के कार्य में जुटे अधिकारी।


हापुड़। कोरोना वायरस को लेकर 21 दिन के लॉक डाउन के बाद सड़कों पर पैदल अपने घर लौट रहे मजदूर तबका लोगों के घर तक पहुंचाने के लिए हापुड़ का परिवहन विभाग पहुंचा टोल प्लाजा पर एआरटीओ महेश शर्मा यात्री कर अधिकारी मनोज गुप्ता सीओ डॉक्टर तेजवीर सिंह कोतवाली प्रभारी पिलखुवा सहित आला अधिकारी मौके पर लोगों को खाना खिलाने में जुटे। सभी को उनके घर तक पहुंचाने का कार्य चालू सात रोडवेज बसें 4 प्राइवेट बस मजदूर तबका लोगों को लेकर हापुड़ से हुई रवाना अभी भी चार गाड़ी प्राइवेट लोगों को पहुंचाने के लिए टोल प्लाजा पर लगाई गई हैं हापुड़ का प्रशासन अलर्ट दिखाई दे रहा है लोगों को खाना खिलाने के साथ-साथ उनके घर तक छोड़ा जा रहा है सभी पुलिस के आला अधिकारी मौके।


विदेश से लौटे हरियाणा के '200 गायब'

राजेश कुमार चौधरी


चंडीगढ़। विदेशों से लौटे यात्रियों ने हरियाणा सरकार की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। सबसे अधिक परेशानी उन लोगों की वजह से है, जो विदेश से हरियाणा लौटने के बाद ‘गायब’ हो गए। अभी तक 11 हजार से अधिक यात्री प्रदेश में लौटे हैं, इनमें से 200 गायब हैं। अब सरकार ने संबंधित जिलों की पुलिस को इन लोगों को ढूंढ़ने के आदेश दिए हैं। प्रदेश में अभी तक कोरोना के 20 केस पॉजिटिव हैं। इन पॉजिटिव केस में अधिकांश वे हैं, जो खुद विदेश से लौटे हैं या फिर वे हैं, जो इनके सीधे संपर्क में आए हैं। तीसरी स्टेज का एक भी केस अभी तक सामने नहीं आया है।


लगभग 11 हजार लोग ऐसे हैं, जो राज्य सरकार की निगरानी में हैं। इन व्यक्तियों की हर रोज हाजिरी लगाई जा रही है, ताकि कोई क्वारंटीन अवधि के दौरान फरार न हो सके। ले रहा हूं दैनिक रिपोर्ट : विज
गृह मंत्री अनिल विज ने कहा, ‘क्वारंटीन किए लोगों को जिलावार बांटा गया है। सभी जिलों के एसपी और पुलिस आयुक्तों की जवाबदेही तय की है।’ विज ने कहा कि क्वारंटीन में रखे गए लोगों की डेली रिपोर्ट ले रहे हैं। विज ने स्वीकार किया कि संभव है कि गायब हो चुके 200 लोगों ने अपने नाम-पते भी गलत लिखवाए हों। उन्होंने कहा कि पंजाब में 90 हजार से अधिक एनआरआई आए हैं। इनमें से काफी लापता हैं। उनके हरियाणा में घुसने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। ढाई लाख मास्क का आर्डर : विज का कहना है कि एचएलएल को ढाई लाख एन-95 मॉस्क का आर्डर दिया है। 10 हजार मॉस्क की सप्लाई हो चुकी है। बाकी भी जल्द ही आने की उम्मीद है।


शाहरुख,सलमान,आमिर ट्रेंड किया

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस से लड़ने के लिए लोगों के अपील पर लोगों द्वारा सहायता पहुंचाने के लिए पीएम रिलीफ फंड की घोषणा की थी। जिसमें भारत की तमाम बड़ी बड़ी हस्तियां अपना योगदान दे रही है जहां देश की तमाम बड़ी बड़ी हस्तियां पीएम रिलीफ फंड में अपना अपना योगदान दे रही है। वहीं बॉलीवुड के पिलर कहे जाने वाले तीनों खान इस मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं जिस पर सोशल मीडिया यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करना स्टार्ट कर दिया है। न्यूज़ ट्रेंडिंग सेक्शन में ट्विटर पर सलमान शाहरुख आमिर दान करो ट्रेंड करने लगा।


अब तक ट्विटर पर इस टैग को यूज करते हुए 50,000 से ज्यादा लोगों ने ट्वीट किया हुआ है । बताते चलें कि इससे पहले भी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को भी सोशल मीडिया यूजर्स के ट्रोल का सामना करना पड़ा था जिसके बाद बीसीसीआई ने पीएम रिलीफ फंड में ₹25 करोड़ देने की घोषणा की थी अब देखना यह होगा कि क्या बॉलीवुड खान भी सोशल मीडिया ट्रोलर्स को जवाब देंगे।


49-60 दिनों का राष्ट्रव्यापी 'लॉक डाउन'

नई दिल्ली। ब्रिटेन के कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के भारतीय मूल के दो शोधकर्ता एक नए गणितीय मॉडल के साथ आए हैं, जिसमें भारत में 49 दिनों के लिए पूरी तरह से राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन या दो महीनों में समय-समय पर छूट के साथ निरंतर लॉकडाउन की बात कही गई है, जो भारत में कोविड-19 को दोबारा उभरने से रोकने के लिए जरूरी हो सकता है।


विश्वविद्यालय में व्यावहारिक गणित और सैद्धांतिक भौतिकी विभाग से राजेश सिंह के सहयोग से रणजय अधिकारी द्वारा लिखा गया शोधपत्र दर्शाता है कि भारत सरकार ने जो 21 दिन का लॉकडाउन लगाया है, उसके प्रभावी होने की संभावना नहीं है और ‘इसके अंत में कोविड-19 का फिर से उभार होगा।’ देश में कोविड-19 महामारी पर सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) के प्रभाव के आकलन का शायद यह पहला मॉडल है, जिसमें भारतीय आबादी की उम्र और सामाजिक संपर्क संरचना को शामिल किया गया है। शोधपत्र का शीर्षक है ‘एज स्ट्रक्चर्डइम्पैक्ट ऑफ सोसल डिस्टेंसिंग ऑन द कोविड-19 एपिडेमिक इन इंडिया’। अध्ययन में सोशल डिस्टेंसिंग उपायों- कार्यस्थल में गैर मौजूदगी, स्कूल बंद करने, लॉकडाउन और इसकी अवधि के साथ उनकी प्रभावाकारिता का आकलन किया गया है। शोधकर्ताओं ने भारत में कोविड-19 महामारी के बढ़ने का अध्ययन करने के लिए सर्वेक्षणों और बेजन इम्प्यूटेशन से प्राप्त सामाजिक संपर्क मैट्रिसेज के साथ एक आयु-संरचित एसआईआर मॉडल का प्रयोग किया। लेखकों ने लिखा, “सामाजिक संपर्क की संरचनाएं गंभीर रूप से संक्रमण के प्रसार को निर्धारित करती हैं और टीकों के अभाव में, बड़े पैमाने पर सामाजिक दूरी के उपायों के माध्यम से इन संरचनाओं का नियंत्रण शमन का सबसे प्रभावी साधन प्रतीत होता है। भारत में कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए 24 मार्च की मध्यरात्रि से 21 दिनों के लिए लॉकडाउन लगाया गया है।


राष्ट्रीय सहायता व राहत' कोष का गठन

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को प्रधानमंत्री आपात स्थिति नागरिक सहायता एवं राहत कोष के गठन की घोषणा की। जिसमें लोग दान कर सकते हैं और महामारी फैलाने वाले वायरस के खिलाफ लड़ाई में सरकार की मदद कर सकते हैं। मोदी की घोषणा के साथ ही कई लोग इस महामारी के खिलाफ भारत की जंग में अपना सहयोग देना शुरू कर दिया है।


पीएम मोदी ने भी हर ऐसे हाथ को, जो इस संकट की घड़ी में उठ रहे हैं उनका अभिवादन कर रहे हैं। पीएम मोदी ने कोष के गठन की घोषणा के समय कहा था, अपने साथी भारतीयों से मेरी अपील है कि वे पीएम केयर्स में उदारता पूर्वक योगदान करें। आने वाले समय में यदि कोई ऐसी विषम परिस्थति पैदा होती है तो उसमें भी यह कोष काम आएगा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू ने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में एक महीने का वेतन जमा कराया है। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जारी अभियान में मदद के लिये प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में एक महीने का वेतन जमा किया है। उन्होंने सांसद स्थानीय क्षेत्र विकास निधि से भी एक करोड़ रुपये जारी किये हैं। इससे पहले किरेन रिजिजू, संतोष गंगवार, रवि शंकर प्रसाद, नितिन गडकरी जैसे केंद्रीय मंत्री भी प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में एक महीने का वेतन जमा करा चुके हैं।लोकसभा अध्यक्ष ने सांसदों से सांसद निधि से एक करोड़ रुपये आवंटित करने का अनुरोध किया लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शनिवार को सभी सांसदों से वायरस से मुकाबला करने के लिए अपनी सांसद निधि (एमपीलैड फंड) से एक करोड़ रुपये आवंटित करने का अनुरोध किया। लोकसभा सचिवालय के बयान के अनुसार, बिरला ने कहा, इस धनराशि का उपयोग आवश्यक जांच किट, मास्क, व्यक्तिगत सुरक्षा किट और अन्य चिकित्सीय उपकरणों के लिये किया जायेगा। सिंधिया ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 30 लाख रुपये देने की घोषणा की कल्याण ज्वलेर्स ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में 10 करोड़ रुपये खर्च करने की घोषणा की है।


कल्याण ज्वेलर्स ने बयान में कहा कि कंपनी स्थानीय और सरकारी निकायों के साथ भागीदारी करेगी ताकि इस कोष का आवंटन सही तरीके से किया जा सके. कंपनी ने कहा कि इस कोष के जरिये वह समाज के कमजोर तबके को भोजन और अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराएगी। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को कहा कि कोरोना वायरस के खतरे से निपटने में मदद के लिए रेल मंत्रालय प्रधानमंत्री नागरिक सहायता एवं आपात स्थिति राहत कोष (पीएम केयर्स फंड) को 151 करोड़ रुपये दान करेगा। देश की प्रमुख जांच एजेंसी सीबीआई के अधिकारियों ने नवगठित प्रधानमंत्री नागरिक सहायता एवं आपात स्थिति राहत (पीएम-केयर्स) कोष में एक दिन का वेतन दान देने का फैसला किया है. एजेंसी के अधिकारियों ने बताया कि कोष का गठन होने के फौरन बाद यह फैसला लिया गया. केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) में करीब 6,000 अधिकारी हैं।इस महीने के शुरू में महिला टी20 विश्व कप में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली 16 वर्षीय ऋचा घोष ने कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिये बंगाल मुख्यमंत्री राहत कोष में एक लाख रूपये दान में दिये। ईपीएस पेंशनभोगियों के मंच का प्रधानमंत्री राहत कोष में एक दिन की पेंशन देने का एलान कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस) के दायरे में आने वाले पेंशनभोगियों के एक फोरम ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने में सरकार की मदद के लिये अपनी एक दिन की पेंशन प्रधानमंत्री राहत कोष में देने का निर्णय किया है; ईपीएस 95 के अंतर्गत आने वाले पेंशनभोगियों की संख्या करीब 65 लाख है।


'बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स' में वायरस की सेंध

नई दिल्ली। देश में महामारी का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है। अब मध्य प्रदेश में बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (बीएसएफ) के एक जवान के महामारी से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, जिसके बाद 50 जवानों को क्वारनटीन किया गया है। राज्य में इस घातक वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 34 हो गई है, इनमें से दो लोगों की मौत हो चुकी है। ग्वालियर के कोरोना नोडल अधिकारी डॉ. महेन्द्र कुमार पिपरौलिया ने बताया कि शनिवार को बीएसएफ अकादमी टेकनपुर में 57 वर्षीय एक अफसर महामारी संक्रमित पाया गया है।


इसके बाद अधिकारी के संपर्क में आने वाले सभी 50 अधिकारियों और जवानों को क्वारनटीन कर दिया गया है। बीएसएफ के डॉक्टर इन जवानों की सेहत की निगरानी कर रहे हैं। अधिकारियों के अनुसार ऑफिसर की पत्नी लंदन से लौटी है। माना जा रहा है कि इस ऑफिसर को संक्रमण अपनी पत्नी से ही हुआ है। यह अफसर 15 से 19 मार्च के बीच एडीजी, आईजी रैंक के अधिकारियों के साथ कई बैठकें कर चुका है। ऐसे में जानकारी ली जा रही है कि वह अफसर और परिजन कितने लोगों के संपर्क में आए।


एमपी में 14 तक शराब की दुकानें बंद

मध्य प्रदेश में 14 अप्रैल तक शराब की दुकानें बंद


भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर चल रहे देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में शराब सभी की दुकानों को बंद करने का आदेश दिया है।


इस बीच, प्रदेश सरकार ने सिनेमा घरों को बंद रखने की अवधि 14 अप्रैल तक बढ़ा दी है। इससे पहले कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए प्रदेश सरकार ने 31 मार्च तक सिनेमा घर बंद रखने के आदेश दिए थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को वाणिज्यिक कर (आबकारी) अधिकारियों को निर्देश दिये कि पूरे प्रदेश में सभी देशी एवं विदेशी शराब की दुकानें तत्काल प्रभाव से बंद कराई जायें। उन्होंने कहा कि कोई भी शराब दुकान खुली पाये जाने पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जायेगी। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद प्रदेश के वाणिज्यिक कर विभाग ने प्रदेश में 28 मार्च से 14 अप्रैल तक शराब की दुकानों को बंद करने के आदेश जारी किए। मध्यप्रदेश में अब तक कोरोना वायरस के 33 मरीज पाए गए हैं। इनमें से दो की मौत हो चुकी है।


1 मार्च के बाद नागरिको की जांच

कोरोना : एक मार्च के बाद यूपी में बाहर से आए हर नागरिक की होगी जांच, जरा भी शक हो तो करें क्वारंटाइन : सीएम योगी


लखनऊ। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार सुबह कोरोना से निपटने को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान योगी ने 1 मार्च के बाद यूपी में बाहर से आए हर नागरिक की निगरानी और हेल्थ जांच करने के निर्देश दिए। योगी ने कहा कि जरा भी शक हो तो क्वारंटाइन करें, लोगों को 14 दिनों का हेल्थ प्रोटोकॉल पालन कराएं।


योगी ने कहा कि कोरोना के चलते जो उद्यम, संस्थान बंद रहे, उन संस्थानों को उनके हर कर्मचारी को वेतन देना ही होगा, अधिकारी वेतन दिलाएं। हर गरीब, दिहाड़ी मज़दूर को सरकार एक हजार रुपए देगी, वो भले ही प्रदेश के किसी भी कोने में हो, इनको ढूँढिए और पैसा पहुचांइए। योगी ने कहा कि ये मानवीय अपील है  पूरे प्रदेश में अल्प वेतन भोगी, श्रमिकों या गरीब लोगों से मकान मालिक किराया न लें। 
योगी ने कहा कि यूपी में जो भी आ गए हैं, या पहले से रह रहे हैं, उनकी पूरी जिम्मेदारी हमारी, उन्हें भोजन, शुद्ध पानी, दवा देंगे, उनके चलते बाक़ी लोगों के स्वास्थ्य का कोई खतरा भी नहीं पैदा होने देंगे, वो अपने राज्य में नहीं जाना चाहते तो भी कोई बात नहीं, सबकी हिफ़ाज़त मेरी जिम्मेदारी है। जो बाहरी राज्यों के कामगार हैं, उनकी दैनिक ज़रूरतों और आर्थिक ज़रूरतों की चिंता करें अधिकारी, ताकी वे अपने अपने राज्यों के लिए पलायन ना करें, जो चुनौती हमारे राज्य पर आई है, पलायन के चलते हम नहीं चाहते कि बाकी राज्यों के सामने ये चुनौती आए। सीएम योगी ने योगी ने स्पष्ट निर्देश दिए कि किसी भी बकाए चलते बिजली, पानी के कनेक्शन न काटे जाएं। हर जिले में डीएम सामानों की लिस्ट की कीमत लगाएं, उसका पालन कराएं, जो जमाख़ोरी की गड़बड़ करें, उनके ख़िलाफ़ एफआईआर समेत कड़ी कार्रवाई करें।


अब भविष्य निधि से निकालो पैसा

कोरोना वायरस प्रभाव: कर्मचारी भविष्य निधि से पैसा निकालने की अनुमति


नई दिल्ली। कोरोना वायरस से जुड़ी पाबंदियों के बीच श्रम मंत्रालय ने कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) योजना के छह करोड़ से अधिक अपने अंशधारकों को अपने खाते से पैसा निकालने की अनुमति दे दी है। इसकी घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारण ने पिछले सप्ताह विभिन्न क्षेत्रों के लिए 1.7 लाख करोड़ रुपये के प्रोत्साहन पैकेज के तहत की थी।


इसके क्रियान्वयन के संबंध में जारी अधिसूचना के अनुसार ईपीएफ खाते से स्वीकृत निकासी की राशि अंशधारक के तीन महीने के मूल वेतन और महंगाई भत्ते के योग या उसके खाते में जमा हुई कुल राशि के तीन चौाथाई में से जो भी कम हो, उससे अधिक नहीं हो सकती है। कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये ‘लॉकडउान’ की वजह से लोगों को राहत देने को लेकर यह कदम उठाया गया है। श्रम मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि मंत्रालय ने कर्मचारी भविष्य निधि योजना 1952 में संशोधन को लेकर 28 मार्च 2020 को इस संदर्भ में अधिसूचना जारी की है। मंत्रालय के अनुसार अधिसूचना में तीन महीने के मूल वेतन और महंगाई भत्ता या ईपीएफ खाते में पड़ी 75 प्रतिशत राशि जो भी कम हो, उसे निकालने की अनुमति दी गयी है। इस राशि को लौटाने की जरूरत नहीं होगी। कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया गया है और इसीलिए ईपीएफ योजना के दायरे में आने वाले देश भर में कारखानों और विभिन्न प्रतिष्ठानों में काम करने वाले कर्मचारी इस राशि को निकालने के लिये पात्र हैं। इसके लिये ईपीएफ योजना, 1952 के पैरा 68 एल के उप-पैरा (3) को जोड़ा गया है। संशोधित कर्मचारी भविष्य निधि कोष (संशोधन) योजना, 2020, 28 मार्च से अमल में आया है। अधिसूचना के बाद कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने अपने क्षेत्रीय कार्यालयों को निर्देश जारी कर इस संदर्भ में सदस्यों से प्राप्त आवेदनों पर तत्काल कदम उठाने को कहा है ताकि संकट की घड़ी में उनकी मदद हो सके।


वायरस की रोकथाम के लिए दिशा-निर्देश

नई दिल्ली। केंद्र और राज्य सरकारों ने रविवार को 21 दिनों के देशव्यापी बंद के मद्देनजर कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। दिशानिर्देशों के अनुसार, अस्पताल, पशु चिकित्सा अस्पताल, फार्मेसियों, प्रयोगशालाओं और अनुसंधान प्रयोगशालाएं चालू रहेंगी। इसमें कहा गया है, “सभी चिकित्सा कर्मियों, नर्सों, पैरामेडिकल स्टाफ और अन्य, अस्पताल से जुड़ी सहायता सेवाओं के लिए परिवहन की अनुमति है।”


दुकानों, बैंकों, प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, दूरसंचार, इंटरनेट सेवाओं आदि को छोड़कर सभी निजी प्रतिष्ठानों को भी बंद रखने के लिए निर्देशित किया गया है। दिशानिर्देशों में कहा गया है कि कुछ अपवादों को छोड़कर भारत सरकार, राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के कार्यालय बंद रहेंगे। रक्षा, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों, आपातकालीन सेवाओं, बिजली, पानी, समाज कल्याण विभाग, कृषि उत्पादों की खरीद में लगी एजेंसियों आदि से संबंधित कार्यालय 14 अप्रैल तक लॉकडाउन के दौरान खुले रहेंगे।दवाओं, चिकित्सा उपकरणों और कोयला, खनिजों और उर्वकों के उत्पादन के लिए औद्योगिक इकाइयां भी लॉकडाउन के दौरान काम करेंगी। परिवहन और हॉस्पिटेलिटी सेवाएं भी बंद रहेंगी। इसके अलावा 15 फरवरी के बाद भारत पहुंचे लोगों को भारतीय दंड संहिता की धारा 188 (आदेश की अवज्ञा) के तहत इस संक्रमण को रोकने के लिए कोरेनटाइन में रहने के लिए कहा गया है। दिशानिर्देशों में कहा गया है, “किसी भी व्यक्ति द्वारा इन निर्देशों का उल्लंघन किए जाने पर आईपीसी की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 51 से 60 के प्रावधानों के तहत कानूनी कार्रवाई होगी।


उत्तराखण्ड में मिले 7 वायरस संक्रमित

उत्तराखंड। रविवार को एक और मरीज के कोरोनावायरस के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। राज्य में कोरोना पॉजिटिव होने का यह सातवां मामला है। बताया जा रहा है देहरादून मिलिट्री अस्पताल में भर्ती कराए गए 47 साल के युवक का कोरोना वायरस का संक्रमण पॉजिटिव पाया है । जिसके बाद से स्वास्थ्य विभाग मरीज की ट्रेवल हिस्ट्री निकाल रही है कि वह इस दौरान किन किन लोगों से मिला था। तमाम एतिहाद के बाद भी राज्य में कोरोनावायरस के मरीजों का मिलने का सिलसिला जारी है फिलहाल उपचार करा रहे कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों में दो डिस्चार्ज हो चुके हैं जबकि एक की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।


झारखंड में लगाया गया जनता कर्फ्यू

रांची। कोरोना को रोकने के लिए जनता कर्फ्यू आज सुबह सात बजे से लेकर रात के 9 बजे तक रहेगा। लेकिन इस बीच झारखंड के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने आदेश दिया है कि रात 9 बजे के बाद भी लोग घर से बाहर नहीं निकले। 


आदेश के अनुसार यह बताया गया गया है कि 9 बजे कर्फ्यू खत्म होने के बाद कुछ लोग के द्वारा कोई भी कार्यक्रम आयोजित किए जा सकते हैं। लोग घरों से बाहर निकलकर घूम सकते हैं। जो पूरी तरह से अवैध है। रात में भी लगा रहे कर्फ्यूः आदेश के अनुसार रात 9 बजे के बाद भी कर्फ्यू लागू रहेगा।अधिकारियों को भी आदेश दिया गया है कि प्रचार माध्यमों से नागरिकों को इस संबंध में सूचित करते हुए कार्रवाई करें। बता दें कि जनता कर्फ्यू के दौरान झारखंड में गाड़ियों नहीं चली. सभी शहरों की दुकाने बंद रही है। लोग अपने-अपने घरों में रहे।


श्रीनगर में वायरस की संख्या 38 पहुंची

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में रविवार को पांच और पॉजिटिव मामले दर्ज किए गए, जिसके बाद राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 38 हो गई है। सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने कहा, “कश्मीर में पांच और पॉजिटिव मामलों की पुष्टि की गई, जिसमें 2 श्रीनगर, 2 बडगाम, 1 बारामूला से हैं।”


इससे पहले एक कोविड-19 रोगी ने श्रीनगर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था। पीड़ित मरीज लगभग 60 साल का था, जो बारामुला जिले के तंगमर्ग इलाके का रहने वाला था। पांच पॉजिटिव मामों के साथ राज्य में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 38 हो गई है, जिनमें से 29 कश्मीर में और नौ जम्मू के अस्पतालों में हैं।


सीएम भूपेश ने लिखी पीएम को चिट्ठी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर कोराना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को रोकने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा की गई सकारात्मक पहल की सराहना की है, वहीं उन्होंने प्रधानमंत्री को छत्तीसगढ़ में कोराना पीड़ितों की स्थिति और लाॅकडाउन के दौरान की गई व्यवस्थाओं की जानकारी दी है. मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से मनरेगा मजदूरों, असंगठित कामगारों, जन-धन खातों और संगठित क्षेत्र के कामगारों के लिए राहत पैकेज देने का अनुरोध किया ताकि उन्हें इस विपदा की घड़ी में आर्थिक सहायता मिल सके.
मुख्यमंत्री बघेल ने अपने पत्र में लिखा है कि छत्तीसगढ़ में 21 मार्च से कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए ‘‘लाॅकडाउन की घोषणा की गई है, जिससे राज्य में कोरोना पीड़ितों की संख्या सीमित रखने में सहायता मिली है. राज्य में आज दिनांक तक कोरोना वायरस से 7 व्यक्ति प्रभावित हुए है, उनकी स्थिति भी सामान्य है. सौभाग्य से राज्य में कोरोना पीड़ित किसी भी व्यक्ति की मृत्यु नही हुई है. एम्स रायपुर का अमला तथा राज्य शासन के सभी अधिकारी आपदा के इस समय में आम जनता को सभी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए पूरी मुस्तैदी के साथ मोर्चा सम्हाले हुए है. किन्तु लाॅक डाउन से धीरे-धीरे राज्य की जनसंख्या के बड़े भाग को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है।


अर्थव्यवस्था संकट से दुखी, खुदकुशी

नीलमणि पाल


जर्मनी के हेसे राज्य के वित्त मंत्री थॉमस शाफर ने कोरोना वायरस से देश की अर्थव्यवस्था को हो रहे नुकसान से चिंतित होकर खुदकुशी कर ली। वह इस बात से अंदर ही अंदर घुट रहे थे कि कोरोना से देश की अर्थव्यवस्था को जो नुकसान हो रहा है, उससे कैसे निपटा जाएगा। राज्य के प्रीमियर वोल्कर ने रविवार को उनकी मौत की सूचना दी।


यूरोपीय सेंट्रल बैंक भी फ्रैंकफर्ट में मौजूद है। प्रीमियर वोल्कर जब यह संदेश जारी कर रहे थे तो उनके चेहरे पर दुख साफ झलक रहा था। शाफर वोल्कर के 10 साल से वित्तीय सहयोगी थे। वह कोरोना वायरस के कारण अर्थव्यवस्था को हुए नुकसान से लड़ने के लिए दिनरात काम कर रहे थे और कंपनियों और कामगारों की मदद कर रहे थे।


वोल्कर ने कहा, ‘हमें आज यह मानना पड़ेगा कि वह बेहद दुखी थे। यह निश्चित रूप से बेहद कठिन वक्त है जब हमें उनकी बेहद जरूरत थी।’ माना जा रहा था कि वोल्कर के बाद शाफर ही अगले प्रीमियर होते। वोल्कर की तरह शाफर भी चांसलर ऐंगला मर्केल की सेंटर राइट सीडीयू पार्टी के सदस्य थे। उनके परिवार में पत्नी के अलावा दो बच्चे हैं।


लॉक डाउन को फेल करने की साजिश

नवादा। भारत में कोरोना लोगों को तेजी से अपने जद में लेने लगा है. इंडिया में अबतक कोरोना वायरस से 24 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 1000 से ज्यादा लोग कोराना संक्रमित हैं. वहीं बिहार में भी कोरोना लगातार तेजी से पैर पसारता जा रहा है. बिहार में कोरोना से एक व्यक्ति की मौत हो गई है जबकि 11 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. पूरे देश को कोरोना को लेकर 21 दिनों तक के लिए लॉकडाउन किया गया है. लेकिन बिहार में लॉकडाउन का क्या आलम है आप इन तस्वीरों में साफ दे सकते हैं. 


लॉकडाउन की उड़ रही हैं धज्जियां
नवादा के रजौली चेक पोस्ट पर अन्य राज्यों से आए लोग लॉकडाउन की धज्जियां उड़ा रहे हैं. रजौली चेक पोस्ट पर भारी संख्या में लोग पहुंचकर बिहार में प्रवेश कर रहे हैं. प्रतिदिन हजारों की संख्या में बंगाल, यूपी, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, झारखंड और गुजरात व अन्य कई राज्यों से लोग बिहार में प्रवेश कर रहे हैं.हालांकि जिला प्रशासन और स्थानीय प्रशासन के द्वारा लगातार चेक पोस्ट पर बाहर से आ रहे लोगों को जांच कराई जा रही है लेकिनजांच डॉक्टर बल्कि एनएम कर रही हैं. आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इतनी बड़ी संख्या में आए लोगों के लिए जांच की कैसी व्यवस्था होगी.



कौन कर रहा इतनी बड़ी साजिश?
हालांकि प्रशासन भीड़ को रोकने को लेकर बाहर से आने वाले वाहनों पर फाइन भी कर रही है लेकिन यह रुकने का नाम नहीं ले रहा है.बिहार में लॉकडाउन के दौरान इतनी भीड़ कोरोना के जंग में बड़ी रुकावट साबित हो सकती है. इस भीड़ को देखकर स्थानीय प्रशासन भी सकते में है.दूसरे राज्य से लोग ट्रक पिकअप एंबुलेंस में जानवरों की तरह भर भर कर बिहार में प्रवेश कर रहे हैं.लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब पूरे देश में लॉकडाउन है तो फिर इतनी संख्या में लोग कैसे बिहार पहुंच रहे हैं. आखिर लॉकडाउन के दौरान इतनी गाड़ियां कैसे बिहार के बॉर्डर तक पहुंच रही हैं?


देशवासियों से सहयोग की अपील

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों से कोरोना वायरस (कोविड-19) से निपटने के लिए योगदान देने की अपील की है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कोरोना संकट से उबरने के राष्ट्रीय प्रयासों में सहायता प्रदान करने के लिए रविवार को कोष में अपना एक माह का वेतन दान करने का संकल्प लिया। उन्होंने सभी देशवासियों से भी अपील की है कि कोष में उदारता से योगदान के लिए आगे आएं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि उनका अनुसरण करते हुए राष्ट्रपति भवन के अधिकारी और कर्मचारी भी कोष में स्वैच्छिक योगदान के लिए आगे आए हैं।


चौकी प्रभारी ने की गरीबों की मदद

जावेद अली


ललितपुर। जनपद ललितपुर में कोरोनावायरस के कारण ग्राम जुगपुरा के वार्ड नम्बर 8 में असहाय गरीब परिवार वालो के बीच लाक डाउन होने की वजह से असहाय गरीब लोगो के बीच रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। रोजी रोटी के संकट को देखते हुये नेहरू नगर चौकी इंचार्ज सन्दीप सिंह सेंगर ने एक बार फिर असहाय गरीब परिवार की मदद के लिये अपने हाथ बढ़ाते हुये ग्राम जुगपुरा प्रधान प्रतिनिधि भज्जू , गौ पुत्र सेना प्रशान्त शुक्ला की मौजूदगी में मुलायम, तुलसीराम , जस्सू माते , फुन्दे , छिदामी , भैयालाल , गुड्डी , प्रमोद , हरी , सुनीता , हातिमा बेगम , मिथुन ,गौरा , प्रकाश , गोवर्धन , ललता आदि को देवगढ़ रेल्वे क्रासिंग के पास नेहरू नगर पुलिस चौकी पर बुलाकर नेहरू नगर चौकी इंचार्ज सन्दीप सिंह सेंगर , ग्राम जुगपुरा प्रधान प्रतिनिधि भज्जू व गौपुत्र सेना प्रशान्त शुक्ला ने संयुक्त रूप से अपने हाथो से गरीब असहाय लोगों को 5 किलो आटा , 2 किलो चावल , 1 किलो दाल , 1 किलो तेल , नमक का पेकेट , हल्दी, धनिया, देकर मदद की और कहा कि गरीब असहाय लोगों की आगे भी भरपूर मदद की जायेगी इस मौके पर नेहरू नगर पुलिस चौकी इंचार्ज सन्दीप सिंह सेंगर , उप निरीक्षक त्रिपुरेश पाण्डेय , हैंड कांस्टेबल जावेद आलम , गौ पुत्र सेना प्रशान्त शुक्ला , कांस्टेबल स्वदेश , गोलू , धीरेन्द्र , रोहित चौरसिया , उपस्थित रहे।


क्वॉरेंटाइन तोड़ने पर होगा एक्शन

 गुजरात में कोरोना के 58 मामले, अब तक 5 लोगों की मौत
 कोरोना पॉजिटिव 50% मामलों की वजह लोकल ट्रांसमिशन
गांधीनगर। कोरोना के कहर के बीच गुजरात में मरने वालों की तादाद पांच हो गई है। गुजरात के अहमदाबाद के एक अस्पताल में रविवार सुबह एक शख्स की इलाज के दौरान मौत हो गई। 45 वर्षीय शख्स कोरोना पॉजिटिव पाया गया। शख्स डायबिटीज से पीड़ित था। वहीं अब गुजरात में अब तक कोरोना के 58 मामले सामने आ चुके हैं। गुजरात में अब तक पांच कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो चुकी है। इसमें से अहमदाबाद में 3, सूरत और भावनगर में एक-एक मरीज की मौत हुई है. वहीं, गुजरात में अब तक कोरोना के 58 मामले सामने आ चुके हैं।


कहां-क्या है आंकड़ा


अहमदाबाद- 21,गांधीनगर- 9,राजकोट -8,वडोदरा- 9,सूरत में – 7,भावनगर और कच्छ 1-1,महसाणा-1,गीर सोमनाथ- 1


गुजरात में कोरोना संक्रमित अब तक जितने मामले सामने आए हैं, उनमें से 50% पॉजिटिव केस लोकल ट्रांसमिशन की वजह से हुए हैं, जिनका किसी भी तरह का कोई विदेश टूर का रिकॉर्ड नहीं है।


वहीं, गुजरात पुलिस लॉकडाउन के बीच काफी सख्ती बरत रही है। गुजरात डीजीपी शिवानंद झा का कहना है कि जो लोग लॉकडाउन के बीच टहलने के लिए निकल रहे हैं, उन लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। यही नहीं, विदेश से आए जो लोग क्वारनटीन में होने के बावजूद घर से बाहर निकल रहे हैं उनका पुलिस पासपोर्ट तक रद्द कर सकती है। गौरतलब है कि गुजरात में 20,103 लोगों को क्वारनटीन में रखा गया है। साथ ही क्वारनटीन नियमों का उल्लंघन करने वाले 236 लोगों के खिलाफ पुलिस ने केस भी दर्ज किए हैं।


जापान सागर में दागी दो मिसाइल

उत्तर कोरिया ने रविवार को पू्र्वी शहर वोनसान से कम दूरी की दो मिसाइलें जापान सागर में दागीं। दक्षिण कोरियाई समाचार एजेंसी योनहाप ने ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ के हवाले से बताया कि उत्तर कोरिया ने वोनसान शहर से जापान सागर में कम दूरी की दो मिसाइलें दागी हैं। 


ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने बताया कि ये मिसाइलें स्थानीय समयानुसार तड़के करीब 06:10 बजे दागी गयीं। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब पूरा विश्व कोरोना (कोविड-19) जैसी महामारी से जूझ रहा है, उत्तर कोरिया का मिसाइल परीक्षण पूरी तरह अनुचित है और वह इसे तत्काल रोकने की मांग करते हैं। दक्षिण कोरिया और अमेरिकी खुफिया एजेंसियां इस मिसाइल परीक्षण का विश्लेषण कर रही हैं। उत्तर कोरिया ने इस माह चौथी बार मिसाइलें दागी हैं। उत्तर कोरिया ने इस महीने की शुरुआत में भी कई मिसाइलें दागी थीं।


यूपी में वायरस संक्रमितो की संख्या 65

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या धीरे धीरे बढ़ती जा रही है। अब यूपी के 13 शहरों में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं। इनमें सबसे ज्यादा नोएडा में मरीजों की संख्या है। शनिवार को अेकेले नोएडा के नौ लोगों में इस बीमारी के वायरस होने की पुष्टि हुई है। वहीं मेरठ में चार और वाराणसी में एक-एक मरीज मिले।अब तक यूपी में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 65 हो गई है। इनमें सबसे अधिक 27 मरीज नोएडा के हैं। उनके अलावा आगरा के 10, लखनऊ के आठ, गाजियाबाद के पांच, मेरठ के पांच, पीलीभीत के दो, वाराणसी के दो और लखीमपुर खीरी, बागपत, मुरादाबाद, मेरठ, कानपुर ,जौनपुर व शामली के एक-एक मरीज शामिल हैं । इस तरह अभी तक 13 जिलों में कोरोना वायरस अपने पांव पसार चुका है। 


133 मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया : 
शनिवार को 133 संदिग्ध मरीजों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया। नोएडा में जो 27  मरीज कोरोना वायरस संक्रमित हैं, उनमें से 19 एक निजी कंपनी के अधिकारी व कर्मचारी हैं। इस कंपनी का एक अधिकारी  बीते दिनों  यूनाइटेड किंगडम की यात्रा कर लौटा था और उसमें कोरोना वायरस  के लक्षण पाए गए। उसके संपर्क में आने के कारण धीरे-धीरे दूसरे अधिकारी व कर्मचारी भी कोरोना की चपेट में आ गए।  दूसरी ओर कोरोना संक्रमित अब तक कुल 14 मरीजों को स्वस्थ घोषित कर अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। जो मरीज स्वस्थ घोषित हुए हैं उनमें आगरा के सात, नोएडा के चार, गाजियाबाद के दो व लखनऊ का  एक मरीज शामिल है। यूपी के अस्पतालों व मेडिकल कॉलेजों में  15 हज़ार आइसोलेशन बेड व 20 हज़ार  क्वारंटाइन बेड की व्यवस्था की जा रही है।   
                   
2127 मरीजों की रिपोर्ट आई निगेटिव, 52 की आनी बाकी              
यूपी में अभी तक कोरोना वायरस के संदिग्ध 2284 मरीजों की जांच करवाई जा चुकी है। इसमें से 2171 संदिग्ध मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है यानी उनमें कोरोना वायरस नहीं पाया गया। वहीं 52 मरीजों की जांच रिपोर्ट अभी आनी बाकी है।   


आरआरटी ने एक दिन में 10 हजार संदिग्ध किए चिह्नित
 स्वास्थ्य विभाग की रैपिड रिस्पांस टीम (आरआरटी ) व डब्ल्यूएचओ  की टीम ने शनिवार को 10 हजार से अधिक ऐसे लोगों को चिह्नित किया जो चीन सहित कोरोना वायरस प्रभावित देशों की यात्रा कर लौटे हैं। उन्हें कम से कम 28 दिन के होम क्वारंटाइन में रखने को कहा गया है। अभी तक करीब 50040 ऐसे लोग चिह्नित किए जा चुके हैं जो चीन या कोरोना प्रभावित दूसरे देशों की यात्रा कर वापस लौटे हैं।


संकट में उठा रहे मजबूरी का फायदा

कुशीनगर। जनपद कुशीनगर में जहा आज इस संकट के घङी मे समाजिक लोग मुफ्त मे अपने द्वारा गरीबों लोगो के लिये उचित खाने से लेकर रहने तक की व्यवस्था कर रहे हैं वही कुछ ऐसे भी राशन दुकानदार हैं जो इन सब से परे हटकर इस लाॅकडाऊन में गरीबों को लूटने मे लगे हुए है सूत्रो की माने तो कुछ इसी तरह का मामला खड्डा थाना क्षेत्र में जनपद कुशीनगर में चौराहे पर राशन दुकानदार के दुकानदारों पर देखने को मिला है जहा यह दुकानदार लोगों की मजबूरी का फायदा उठा रहे है और हर एक समान जरूरत से ज्यादा रेट पर बेच रहे हैं वही सरकार की आदेशों की कोई इन्हे प्रवाह भी नही है और ना ही स्थानीय पुलिस प्रसाशन की इस बात की चिंता है की यह लूट पर रोक लगाये, इतना ही नही अगर कोई यह भी पूछ दे रहा है की खाद्य पदार्थों की इतनी महंगी बिक्री क्यो हो रही है तो उस कस्टमर से बतमीजी से लेकर लङाई तक अमादा हो जा रहे हैं यह दुकानदार साहब,अब ऐसे मे कैसे गरीबों की हित की भला हो सकता है? और इस लाॅकडाऊन को कैसे सफ़ल बनाया जा सकता है? अगर खाने पीने की समान महंगे रेट पर मिलेंगे तो गरीबों मे भुखमरी तो आयेगी ही न, इसलिये शासन प्रशासन ऐसे दुकानदारों पर तुरंत कार्यवाही करें जिससे गरीबों मे भुखमरी की हालात न पैदा हो सके।


 


असुविधाओं के लिए क्षमा चाहता हूं

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। मैं जानता हूं कि कोई कानून नहीं तोड़ना चाहता, लेकिन कुछ लोग ऐसा कर रहे हैं क्योंकि अभी भी वो स्थिति की गंभीरता को नहीं समझ रहे। अगर आप 21 दिनों के लॉकडाउन का नियम तोड़ेंगे तो वायरस से बचना मुश्किल होगा।
कोरोना वायरस ने दुनिया को कैद कर दिया है। ये ना तो राष्ट्र की सीमाओं में बंधा है, न ही कोई क्षेत्र देखता है और न ही कोई मौसम इसलिए लोगों को, इसे खत्म करने के लिए एकजुट होकर संकल्प लेना होगा। अमेरिका में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 वायरस के कारण सर्वाधिक 453 मौतें हुई।
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा, 'आमतौर पर मैं मन की बात में कई विषयों को ले करके आता हूं। लेकिन आज देश के मन में सिर्फ एक ही बात है- ‘कोरोना वैश्विक महामारी’ से आया हुआ भयंकर संकट, ऐसे में मैं कुछ और कहूं वो उचित नहीं होगा। हो सकता है, बहुत से लोग मुझसे नाराज होंगे कि ऐसे कैसे सबको घर में बंद कर रखा है। मैं आपकी दिक्कतें समझता हूं, लेकिन भारत को, कोरोना के खिलाफ जीतने के लिए, ये कदम उठाए बिना कोई रास्ता नहीं था। मैं फिर एक बार, आपको जो भी असुविधा हुई है, कठिनाई हुई है, इसके लिए क्षमा मांगता हूं।'
मन की बात में बोले पीएम- आपको जो असुविधा, कठिनाई हुई इसके लिए क्षमा मांगता हूं


कोरोना वायरस की चेन तोड़ने के लिए देशभर में लॉकडाउन लागू होने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार सुबह 11 बजे अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए देशवासियों को संबोधित कर रहे हैं। इस बार कार्यक्रम में वह कोविड-19 की वजह से देश में उपजी परिस्थितियों को लेकर अपनी बात रख रहे हैं। हिंदी में प्रसारण के तुरंत बाद आकाशवाणी पर 'मन की बात' कार्यक्रम को विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं में प्रसारित किया जाएगा।


वायरस को गंभीरता से लें, घर में रहे

कानपुर। आज पूरे विश्व में कोरोनावायरस का प्रकोप फैल गया है। उसको गंभीरता से समझे और घर में ही रहे हमारे आदरणीय प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री के आदेशानुसार लॉक डाउन का पालन करें। सभी लोग गंभीरता से लॉक डाउन का पालन करते हैं तो कोरोनावायरस को हम अपने हिंदुस्तान से बाहर कर सकते हैं। क्योंकि एक ही मात्र विकल्प है सावधानी सतर्कता जागरूकता एवं लॉक डाउन के सभी नियमों का पालन ही सही है। हम सभी सुरक्षित रह सकते हैं हम सभी को कोरोनावायरस से एक समझदार योद्धा बनकर ही जीत हासिल कर सकते हैं। हमारे प्रधानमंत्री जी के आदेशानुसार 21 दिन का पूरा लाक डाउन पूरे हिंदुस्तान में किया गया है। उनके आदेशों का हम सभी पालन करें और हम सभी प्रधानमंत्री जी को आस्वस्त करें कि जरूरत पड़ी तो आगे भी लाक डाउन का पालन हम सभी कर सकते हैं घबराने की बात नहीं है। सावधानी बरतनी है हमारे देश के प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, डॉक्टर, पुलिस, पत्रकार, समाजसेवी एवं हमारे देशवासियों को इस वायरस से बचाने आगे आ रहे है,और कोरोना वायरस से बचाने के लिए पूरे हिंदुस्तान में डॉक्टर, पुलिस, पत्रकार और प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री जी को हर सम्भव प्रयास में लगे हैं। हम यूनाइटेड अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार ट्रस्ट की तरफ से इनका सहृदय से धन्यवाद करते हैं कि इस विषय परिस्थितियों में हम लोगों को सुरक्षित रखने के लिए आर्थिक सहायता कर रहे है। ऐसे लोगों को उनके जज्बे को सलूट करते है। कोरोना वायरस को हिंदुस्तान से बाहर निकालने के लिए हम सभी को लॉक डाउन का पालन करना है। अपने परिवार अपने समाज को अपने देश को सुरक्षित करने के लिए हम सभी लोग मिलकर पालन करेंगे जिससे इस मुसीबत से जल्द से जल्द निकल सके।


वायरसः स्पेन की राजकुमारी की ली जान

स्पेन। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया में कोहराम मचा हुआ है। इस वायरस से स्पेन की राजकुमारी मारिया टेरेसा की मौत हो चुकी है। वहीं, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की पत्नी कोरोना वायरस के कारण होने वाली बीमारी से अब ठीक हो गई हैं। इस जानलेवा वायरस की वजह से दुनियाभर में अब तक 6 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं, वहीं इससे अब तक 30 हजार से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। अमेरिका में मृतकों की संख्या 2000 और इटली में 10,000 से अधिक हो चुकी है। वहीं दुनियाभर में 65 हजार नए मामले सामने आए।


नेपाल में फंसे 44 पर्यटक वापिस लाए

सोनौली (महराजगंज)। सूत्रों के मुताबिक मिली जानकारी के अनुसार। सोनौली नगर पंचायत क्षेत्र के अन्तर्गत। सोनौली नगर पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि सूधीर त्रिपाठी ने ने बताया कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को लेकर लाकडाउन के बाद भारत नेपाल सीमा को सील कर दिया गया है। जिसके कारण पड़ोसी राष्ट्र नेपाल में चेन्नई(भारत)के रहने वाले 44 पर्यटक फंस गए थे।


जिनको प्रशासन की मदद से भारत मे लाया गया और उनको सोनौली नगर में स्थित सिटी गेस्ट हाउस में रखा गया है। इन सभी भारतीय पर्यटकों आज आदर्श न०पं०सोनौली के अध्यक्ष प्रतिनिधि सुधीर त्रिपाठी ने गेस्ट हाउस पहुँचकर उनका कुशल क्षेम पूछा और उनको खाने-पीने का सामान जैसे:-चावल,दाल,आंटा,तेल,आलू,प्याज इत्यादि मुहैया कराने का कार्य किया।


इस अवसर पर *सूधीर त्रिपाठी* ने पर्यटकों से कहा कि आप लोगों को किसी भी प्रकार की असुविधा नही होने दिया जाएगा,आप लोगों को खाद्य सामग्री की आवश्यकता या किसी भी प्रकार की असुविधा महसूस होती है तो आप लोग मेरे मोबाइल नम्बर पर संपर्क करिये आप लोगों का हर तरह से मदद किया जायेगा। इस अवसर पर सभासद प्रदीप नायक,बेचन प्रसाद,अमीर आलम,राजकुमार नायक,अशुतोष त्रिपाठी सहित कई लोग उपस्थित रहें।


छठा नवरात्रा मां कात्यायनी

कात्यायनी' अमरकोष में पार्वती के लिए दूसरा नाम है, संस्कृत शब्दकोश में उमा, कात्यायनी, गौरी, काली, हेेमावती व ईश्वरी इन्हीं के अन्य नाम हैं। शक्तिवाद में उन्हें शक्ति या दुर्गा, जिसमे भद्रकाली और चंडिका भी शामिल है, में भी प्रचलित हैं। यजुर्वेद के तैत्तिरीय आरण्यक में उनका उल्लेख प्रथम किया है। स्कन्द पुराण में उल्लेख है कि वे परमेश्वर के नैसर्गिक क्रोध से उत्पन्न हुई थीं , जिन्होंने देवी पार्वती द्वारा दी गई सिंह पर आरूढ़ होकर महिषासुर का वध किया। वे शक्ति की आदि रूपा है, जिसका उल्लेख पाणिनि पर पतञ्जलि के महाभाष्य में किया गया है, जो दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में रचित है। उनका वर्णन देवीभागवत पुराण, और मार्कंडेय ऋषि द्वारा रचित मार्कंडेय पुराण के देवी महात्म्य में किया गया है जिसे ४०० से ५०० ईसा में लिपिबद्ध किया गया था। बौद्ध और जैन ग्रंथों और कई तांत्रिक ग्रंथों, विशेष रूप से कालिका पुराण (१० वीं शताब्दी) में उनका उल्लेख है, जिसमें उद्यान या उड़ीसा में देवी कात्यायनी और भगवान जगन्नाथ का स्थान बताया गया है।


परम्परागत रूप से देवी दुर्गा की तरह वे लाल रंग से जुड़ी हुई हैं। नवरात्रि उत्सव के षष्ठी को उनकी पूजा की जाती है। उस दिन साधक का मन 'आज्ञा चक्र' में स्थित होता है। योगसाधना में इस आज्ञा चक्र का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। इस चक्र में स्थित मन वाला साधक माँ कात्यायनी के चरणों में अपना सर्वस्व निवेदित कर देता है। परिपूर्ण आत्मदान करने वाले ऐसे भक्तों को सहज भाव से माँ के दर्शन प्राप्त हो जाते हैं।


श्लोक
चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन ।
कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ॥

माँ का नाम कात्यायनी कैसे पड़ा इसकी भी एक कथा है- कत नामक एक प्रसिद्ध महर्षि थे। उनके पुत्र ऋषि कात्य हुए। इन्हीं कात्य के गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन उत्पन्न हुए थे। इन्होंने भगवती पराम्बा की उपासना करते हुए बहुत वर्षों तक बड़ी कठिन तपस्या की थी। उनकी इच्छा थी माँ भगवती उनके घर पुत्री के रूप में जन्म लें। माँ भगवती ने उनकी यह प्रार्थना स्वीकार कर ली। कुछ समय पश्चात जब दानव महिषासुर का अत्याचार पृथ्वी पर बढ़ गया तब भगवान ब्रह्मा, विष्णु, महेश तीनों ने अपने-अपने तेज का अंश देकर महिषासुर के विनाश के लिए एक देवी को उत्पन्न किया। महर्षि कात्यायन ने सर्वप्रथम इनकी पूजा की। इसी कारण से यह कात्यायनी कहलाईं।


ऐसी भी कथा मिलती है कि ये महर्षि कात्यायन के वहाँ पुत्री रूप में उत्पन्न हुई थीं। आश्विन कृष्ण चतुर्दशी को जन्म लेकर शुक्त सप्तमी, अष्टमी तथा नवमी तक तीन दिन इन्होंने कात्यायन ऋषि की पूजा ग्रहण कर दशमी को महिषासुर का वध किया था। माँ कात्यायनी अमोघ फलदायिनी हैं। भगवान कृष्ण को पतिरूप में पाने के लिए ब्रज की गोपियों ने इन्हीं की पूजा कालिन्दी-यमुना के तट पर की थी। ये ब्रजमंडल की अधिष्ठात्री देवी के रूप में प्रतिष्ठित हैं। माँ कात्यायनी का स्वरूप अत्यंत चमकीला और भास्वर है। इनकी चार भुजाएँ हैं। माताजी का दाहिनी तरफ का ऊपरवाला हाथ अभयमुद्रा में तथा नीचे वाला वरमुद्रा में है। बाईं तरफ के ऊपरवाले हाथ में तलवार और नीचे वाले हाथ में कमल-पुष्प सुशोभित है। इनका वाहन सिंह है।


माँ कात्यायनी की भक्ति और उपासना द्वारा मनुष्य को बड़ी सरलता से अर्थ, धर्म, काम, मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति हो जाती है। वह इस लोक में स्थित रहकर भी अलौकिक तेज और प्रभाव से युक्त हो जाता है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मार्च 30, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-231 (साल-01)
2. सोमवार, मार्च 30, 2020
3. शक-1942,चैैत्र-शुक्ल पक्ष, तिथि-षष्ठी, संवत 2077


4. सूर्योदय प्रातः 06:20,सूर्यास्त 06:40
5. न्‍यूनतम तापमान 14+ डी.सै.,अधिकतम-27+ डी.सै., बरसात की संभावना बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...