शुक्रवार, 6 मई 2022

'आईपीएल 2022' का 51वां मुकाबला खेला

'आईपीएल 2022' का 51वां मुकाबला खेला  

मोमीन मलिक           
नई दिल्ली। हार्दिक पांड्या की गुजरात टाइटंस और रोहित शर्मा की अगुवाई वाली मुंबई इंडियंस के बीच आईपीएल 2022 का 51वां मुकाबला खेला गया। इस मैच में हार्दिक पांड्या ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनी है। गुजरात ने अपनी प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव नहीं किया है। वहीं मुंबई की टीम में ऋतिक शौकीन की जगह मुर्गन अश्विन की एंट्री हुई है। आईपीएल 2022 में पहली बार ये दोनों टीमें आमने सामने हुईं। हार्दिक पांड्या की नजरें इस मुकाबले में अपनी पूर्व टीम को धूल चटाकर प्लेऑफ में कदम रखने पर हुईं। वहीं मुंबई इंडियंस गुजरात के खिलाफ दूसरी जीत की तलाश में उतरेगी।
प्वाइंट्स टेबल पर नजर डालें तो गुजरात 16 अंक के साथ शीर्ष पर है। वहीं, मुंबई दो प्वाइंट्स के साथ सबसे नीचे 10वें पायदान पर है। गुजरात टाइटंस को पिछले मुकाबले में पंजाब किंग्स के हाथों 8 विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। यह इस सीजन में मात्र उनकी दूसरी हार थी। वहीं लगातार 8 हार झेलने के बाद मुंबई को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ अपने पिछले मुकाबले में पहली जीत मिली थी।

समारोह का आयोजन, निर्वाचन सम्पन्न कराया

समारोह का आयोजन, निर्वाचन सम्पन्न कराया  

भानु प्रताप उपाध्याय        

मुजफ्फरनगर। शुक्रवार को जिला पंचायत सभागार में विधानसभा सामान्य निर्वाचन को सकुशल सम्पन्न कराने हेतु सराहनीय कार्य के लिए निर्वाचन कार्य में लगे अधिकारियो/कर्मचारियो को प्रशस्ति-पत्र वितरण समारोह का आयोजन किया जिसमे जिलाधिकारी ने कहा जनपद मुजफ्फरनगर में स्वतन्त्र-निष्पक्ष सुरक्षित पारदर्शिता एवं शांतिपूर्ण तरीके से जिले में निर्वाचन सम्पन्न कराया गया‌। जिसके लिये जिलाधिकारी ने निर्वाचन कार्य में लगे अधिकारी एवं कर्मचारी तथा मीडिया एवं जनमानस को धन्यवाद दिया।

उन्होने कहा कि अधिकारी एवं कर्मचारियो ने अपने कर्तव्यो का भली-भॉति निर्वहन किया। इसके लिये वे प्रशंसा के पात्र है। मै आशा करता हूॅं। आप लोग इसी प्रकार आने वाले समय मे भी अपने कर्तव्यो का पूर्ण रुप से पालन करेगे। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने निर्वाचन कार्य में लगाये गये नोडल अधिकारी, प्रभारी अधिकारी, सहायक अधिकारी एवं कर्मचारियो को प्रशस्ति-पत्र देकर उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

खुलासा: खुद को मृत दिखाने के लिए हत्या की

खुलासा: खुद को मृत दिखाने के लिए हत्या की 

अश्वनी उपाध्याय          

गाजियाबाद। गाजियाबाद में हत्या के एक सनसनीखेज मामले का खुलासा हुआ है। दरअसल हत्या के मामले में जेल में बंद एक आरोपी फर्जीवाड़ा कर जेल से बाहर निकला और फिर खुद को मृत दिखाने के लिए किसी और की हत्या कर दी।लेकिन इस फर्जीवाड़े का उस वक्त खुलासा हो गया, जब पुलिस ने मृतक के शव का डीएनए टेस्ट कराया। जानकारी के अनुसार, मेरठ के कंकरखेड़ा का रहने वाला अजय कुमार हत्या के मामले में मुजफ्फरनगर जेल में बंद था। पिछले साल विकास नाम का एक युवक धारा 151 में जेल गया था। फर्जीवाड़ा करके अजय विकास बनकर जेल से बाहर आ गया। इसके बाद उसने अपने ऊपर चल रहे तमाम मुकदमों से निजात पाने के लिए खुद को मृत दिखाने की साजिश रची।

अजय ने 12 अगस्त 2021 की रात को किसी व्यक्ति की हत्या करने के बाद उसे अपने कपड़े पहना दिए और मृतक का चेहरा जला दिया। इसके बाद शव को गाजियाबाद के निवाड़ी थाना क्षेत्र के जंगल में फेंक दिया। साजिश के तहत अजय की पत्नी और बच्चों ने मृतक की पहचान अजय के रूप में कर दी। शक होने पर पुलिस ने शव का डीएनए टेस्ट कराया तो मृतक व्यक्ति अजय नहीं निकला। घटना का खुलासा करते हुए गाजियाबाद की निवाड़ी थाना पुलिस ने अजय की पत्नी को गिरफ्तार कर लिया है। मरने वाला व्यक्ति कौन था ? अभी इसका पता नहीं लग सका है। पुलिस का कहना है कि अजय की गिरफ्तारी के बाद ही मृतक के बारे में कोई जानकारी लग सकेगी।

सपा पार्षदों संग बैठक, पूरी रणनीति तैयार की

सपा पार्षदों संग बैठक, पूरी रणनीति तैयार की  

बृजेश केसरवानी       
प्रयागराज। नगर निकाय चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी ने महानगर अध्यक्ष सै. इफ्तेखार हुसैन की अध्यक्षता व नगर महासचिव रवीन्द्र यादव रवि के संचालन मे चौक स्धित नगर कार्यालय पर कार्यकर्ताओं व नगर निकाय चुनाव मे समाजवादी पार्टी के पार्षदों संग बैठक कर पूरी रणनीति तैयार की। श्री इफ्तेखार ने कहा, सपा पूरी दमदारी के साथ सपा के प्रति समर्पित लोगों को ही प्रत्याशी घोषित करने के साथ दमदारी से चुनाव लड़ेगी।
महानगर महासचिव रवीन्द्र यादव ने कहा हमे परिसीमन का इन्तजार है। अभी फिलहाल अस्सी वार्ड हैं। शहर क्षेत्र के विस्तार होने के कारण और भी इलाक़े नगर निगम परिक्षेत्र मे जुड़े हैं। वार्डो की संख्या भी बढ़ेगी। वहीं कुछ वार्डो के क्षेत्र बदल भी सकते। हमारी रणनीति प्रत्येक वार्ड मे प्रत्याशी उतारने की है। रवि ने कहा, भीतरघातियों पर इस बार उनकी करनी की सज़ा ज़रुर मिलेगी।सपा के प्रति निष्ठावान और समर्पित लोगों को ही इस बार टिकट मिलेगा। बैठक मे कई अन्य मुद्दों पर भी चर्चा की गई। पार्टी के अन्य वरीष्ठ नेताओं ने भी अपने सुझाव दिए।
बैठक में सैय्यद इफ्तेखार हुसैन ,रवीन्द्र यादव रवि, मशहद अली खाँ ,भोला पाल ,पंकज साहु, हरीषचन्द्र श्रीवास्तव ,नितिन यादव ,सै०आसिफ हुसैन ,रीता मौर्या ,सविता कैथवास ,मोहम्मद मुजीब ,संदीप सिंह सत्या ,अभिषेक यादव ,नन्हे मंसूरी ,अंकित कुमार पटेल ,शुभम यादव ,फय्याज़ अली,सुधीर निषाद ,जिज्ञांशू यादव ,जयभारत यादव ,अरविन्द यादव ,अमर सिंह ,विशाल सिंह, सै०मो०अस्करी आदि शामिल रहे।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि व ईदगाह केस, तारीख मुकर्रर

श्रीकृष्ण जन्मभूमि व ईदगाह केस, तारीख मुकर्रर

हरिओम उपाध्याय  
लखनऊ। यूपी के मथुरा जिले में जिला एवं सत्र न्यायलय द्वारा श्रीकृष्ण जन्मभूमि और शाही ईदगाह मामलें की सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान दोनों पक्षो ने अपनी-अपनी बात रखी। दोनों तरफ की बातचीत सुनने के बाद जिला जज ने 19 मई की तारीख मुकर्रर करते हुए फैसला सुनाने का निर्णय लिया है। आपको बताते चलें कि आखिर कहा से श्रीकृष्ण जन्मभूमि और शाही ईदगाह का मामला शुरु हुआ।
9 नवम्बर 2019 को श्रीराम जन्मभूमि का फैसला आने के बाद सबसे पहले श्रीकृष्ण जन्मभूमि की ओर से अधिवक्ता हरिशंकर जैन, रंजना अग्निहोत्री सहित कुल 8 लोगों ने मथुरा जिला अदालत में याचिका दायर की थी। जिस पर अभी तक सुनवाई चल रही है। श्रीकृष्ण जन्मभूमि व शाही ईदगाह के मामले के साथ ही कई अन्य मामले मथुरा की जिला अदालत में दायर किये गए थे‌।
साल 2020 में दायर याचिका
श्रीकृष्ण जन्मभूमि की 13.37 एकड़ भूमि के स्वामित्व को लेकर 25 सितंबर 2020 को श्रीकृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट की ओर से मथुरा की जिला अदालत में याचिका दायर की गई थी। जिस पर जिला अदालत में श्रीकृष्ण जन्मभूमि और सुन्नी वक्फ बोर्ड के द्वारा अपना-अपना पक्ष रखा गया। आदलत में चली लंबी सुनवाई के बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखते हुए 19 मई 2022 को अपना फैसला सुनाने को कहा।

जमीन के स्वामित्व का मामला...
याचिका में ये कहा गया है कि श्रीकृष्ण जन्मभूमि और शाही ईदगाह के बीच हुए साल 1967 में समझौते को खारिज करके 13.37 एकड़ जमीन का स्वामित्व जन्मभूमि ट्रस्ट को सौंपा जाए। इसमें चार पक्षों को अदालत द्वारा नोटिस भी दिया गया था। जिसमें सुन्नी वक्फ बोर्ड, श्रीकृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट, श्रीकृष्ण जन्मभूमि सेवा संघ और शाही ईदगाह ट्रस्ट ने अदालत में अपना-अपना पक्ष रखा था।

राष्ट्रपति ने विदेश मंत्री के बयान पर जताया खेद

राष्ट्रपति ने विदेश मंत्री के बयान पर जताया खेद  

सुनील श्रीवास्तव
मॉस्को। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपने विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के उस बयान पर खेद जताया है, जिसमें जर्मनी के तानाशाह एडोल्फ हिटलर को यहूदी मूल का बताया गया था। लावरोव के इस बयान पर इजरायल ने कड़ा विरोध जताया था और रूसी राजदूत को तलब कर माफी मांगने के लिए कहा था। रूसी विदेश मंत्री का बयान आने के बाद दोनों देशों के रिश्तों में खटास आ गई थी।
बेनेट के ऑफिस द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया है कि पुतिन ने यूनाइटेड नेशंस और रेड क्रॉस मानवीय गलियारे के माध्यम से घायल नागरिकों सहित नागरिकों को निकालने की इजाजत देने का वादा किया था। यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की के साथ एक कॉल के बाद बेनेट ने पुतिन से बात की है। बता दें कि इजरायली नेता संघर्ष में मध्यस्थ के रूप में अपनी भूमिका निभा रहा है। यही नहीं रूस के कई अमीर पश्चिमी देशों के प्रतिबंध लगाए जाने के बाद अब इजरायल में शरण लिए हुए हैं। रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन ने फोन पर इजरायल के पीएम से माफी मांगी जिसे बेनेट ने स्‍वीकार कर लिया। लावरोव की इस यहूदी विरोधी टिप्‍पणी के बाद इजरायल की मध्‍यस्‍थ की भूमिका पर संदेह के बादल उमड़ने लगे थे। लावरोव ने इटली के एक न्‍यूज चैनल को दिए साक्षात्‍कार में कहा था कि रूस ने यूक्रेन को नाजी विचारधारा से मुक्‍त कराने के लिए हमला किया है।

आईएएस अधिकारी के 20 ठिकानों पर छापेमारी

आईएएस अधिकारी के 20 ठिकानों पर छापेमारी

रोशनी पांडेय  
रांची। आईएएस अधिकारी पूजा सिंघल के 20 ठिकानों पर ईडी ने छापेमारी की। जानकारी के अनुसार, आईएएस पूजा के रांची के अलावा मुजफ्फपुर (बिहार) के ठिकानों पर भी ईडी छापेमारी कर रही है। रांची में पंचवटी रेसीडेंसी, ब्लॉक नंबर 9, चांदनी चौक हरिओम टावर, नई बिल्डिंग, लालपुर और रांची के पल्स हॉस्पिटल पर छापा पड़ा है। केंद्रीय एजेंसी की यह कार्रवाई रामविनोद सिन्हा से जुड़े मामले में हो रही है। पूरा मामला मनरेगा घोटाले से जुड़ा है। रामविनोद खूंटी में जूनियर इंजीनियर थे, तब पूजा सिंघल खूंटी की डीसी थीं। 
झारखंड हाईकोर्ट ने आदेश दिया था कि ईडी इस मामले में काउंटर एफिडेविट करे।
पूजा के जिन ठिकानों पर ईडी ने छापा मारा है, उनमें झारखंड के रांची, खूंटी, राजस्थान के जयपुर, हरियाणा के फरीदाबाद व गुरुग्राम, पश्चिम बंगाल के कोलकाता, बिहार के मुजफ्फरपुर व दिल्ली एनसीआर के क्षेत्र हैं। पूजा सिंघल के की भारी मात्रा में नकदी(करीब 25 करोड़) बरामद की गई है। बरामद नकदी की गिनती के लिए मशीन मंगाई गई है। ये पैसे इनके चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए) के यहां से मिली है। पूजा सिंघल के मुजफ्फरपुर स्थित मिठनपुरा ठिकाने भी पर ईडी की छापेमारी चल रही है। यह मकान पूजा सिंघल के ससुर कामेश्वर झा का है। वे भी बिहार सरकार में पदाधिकारी थे। उनके पुत्र अभिषेक झा से पूजा सिंघल ने दूसरी शादी की है।
आइएएस पूजा सिंघल के पति अभिषेक के आवास पर भी ईडी ने छापेमारी की है। बता दें कि आइएएस अधिकारी राहुल पुरवार से तलाक के बाद पूजा सिंघल ने अभिषेक से शादी की थी। अभिषेक के रांची में रातू रोड स्थित एक ठिकाने पर ईडी के अधिकारी जांच कर रहे है। ईडी ने छापेमारी में उनके घर से दस्तावेज जब्त किए हैं। इसके बाद अधिकारी दस्तावेज लेकर कार्यालय पहुंचने लगे।

घोषणा: 19वें एशियाई खेल स्थगित कियें

घोषणा: 19वें एशियाई खेल स्थगित कियें   

सुनील श्रीवास्तव  
हांगझाऊ। एशियाई ओलम्पिक परिषद ने शुक्रवार को घोषणा की, कि चीन के हांगझाऊ में 10 से 25 सितंबर तक होने वाले 19वें एशियाई खेल स्थगित कर दिए गए हैं और इन खेलों के लिए नयी तारीखों की घोषणा निकट भविष्य में की जायेगी।
परिषद ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा, “चीनी ओलम्पिक कमेटी (सीओसी) और हांगझाऊ एशियाई खेल आयोजन समिति (हागोक) के साथ विस्तृत बातचीत के बाद एशियाई ओलम्पिक परिषद (ओसीए) के कार्यकारी बोर्ड ने आज चीन के हांगझाऊ में 10 से 25 सितंबर तक होने वाले 19वें एशियाई खेलों को स्थगित करने का फैसला लिया है।”
विज्ञप्ति में कहा गया, “19वें एशियाई खेलों की नई तारीख ओसीए, सीओसी और हागोक मिलकर निर्धारित करेंगे जिसकी घोषणा निकट भविष्य में की जाएगी।” ओसीए ने कहा कि यह निर्णय खेलों के आकार और कोरोना महामारी को देखते हुए सभी पक्षों की सहमति से लिया गया है। 19वें एशियाई खेलों का नाम और चिन्ह बदला नहीं जाएगा।
इसके अलावा ओसीए के कार्यकारी बोर्ड ने इस साल चीन के शांतोउ में 20 से 28 सितंबर तक होने वाले तीसरे एशियाई युवा खेलों की स्थिति का भी अध्ययन किया। सीओसी और आयोजन समिति के साथ चर्चा के बाद कार्यकारी बोर्ड ने फैसला किया कि एशियाई युवा खेल शांतोउ 2021 को एक बार स्थगित किया जा चुका है, इसलिए इन्हें रद्द कर दिया जाएगा और अगले एशियाई युवा खेल 2025 में उज्बेकिस्तान के ताशकंद में आयोजित किये जाएंगे। ।  एशियाई ओलम्पिक परिषद ने शुक्रवार को घोषणा की कि चीन के हांगझाऊ में 10 से 25 सितम्बर तक होने वाले 19वें एशियाई खेल स्थगित कर दिए गए हैं और इन खेलों के लिए नयी तारीखों की घोषणा निकट भविष्य में की जायेगी।
परिषद ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा, “चीनी ओलम्पिक कमेटी (सीओसी) और हांगझाऊ एशियाई खेल आयोजन समिति (हागोक) के साथ विस्तृत बातचीत के बाद एशियाई ओलम्पिक परिषद (ओसीए) के कार्यकारी बोर्ड ने आज चीन के हांगझाऊ में 10 से 25 सितंबर तक होने वाले 19वें एशियाई खेलों को स्थगित करने का फैसला लिया है।”
विज्ञप्ति में कहा गया, “19वें एशियाई खेलों की नई तारीख ओसीए, सीओसी और हागोक मिलकर निर्धारित करेंगे जिसकी घोषणा निकट भविष्य में की जाएगी।” ओसीए ने कहा कि यह निर्णय खेलों के आकार और कोरोना महामारी को देखते हुए सभी पक्षों की सहमति से लिया गया है। 19वें एशियाई खेलों का नाम और चिन्ह बदला नहीं जाएगा।
इसके अलावा ओसीए के कार्यकारी बोर्ड ने इस साल चीन के शांतोउ में 20 से 28 सितंबर तक होने वाले तीसरे ऐशियाई युवा खेलों की स्थिति का भी अध्ययन किया। सीओसी और आयोजन समिति के साथ चर्चा के बाद कार्यकारी बोर्ड ने फैसला किया कि एशियाई युवा खेल शांतोउ 2021 को एक बार स्थगित किया जा चुका है, इसलिए इन्हें रद्द कर दिया जाएगा और अगले एशियाई युवा खेल 2025 में उज्बेकिस्तान के ताशकंद में आयोजित किये जाएंगे।

सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़, 1 आतंकी मारा गया

सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़, 1 आतंकी मारा गया 

इकबाल अंसारी  
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में शुक्रवार को सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में एक अज्ञात आतंकवादी मारा गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक अनंतनाग जिले के पहलगाम क्षेत्र के श्रीचंद वन क्षेत्र में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में मिली खुफिया जानकारी के आधार पर सुरक्षाबलों ने वहां घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया।
पुलिस अधिकारी के अनुसार सुरक्षाबल जब एक विशेष क्षेत्र की ओर बढ़ रहे थे, तो वहां पहले से मौजूद आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई की। पुलिस अधिकारी के अनुसार मुठभेड़ में अब तक एक आतंकवादी मारा गया है। मारे गए आतंकवादी की पहचान और वह किस संगठन से संबद्ध था, इसका पता लगाया जा रहा है।

12 मई को लॉन्च होगा 'मोटोरोला मोटो एज 30'

12 मई को लॉन्च होगा 'मोटोरोला मोटो एज 30' 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। मोटोरोला ने यूरोपीय बाजार में अपने  30 से पर्दा उठाया है। कहा जा रहा है कि अब इसे जल्द ही भारत में भी लॉन्च किया जाएगा। एक टिप्सटर के अनुसार, मोटोरोला भारत में 'मोटोरोला मोटो एज 30' को 12 मई को लॉन्च करेगा। इस फोन में स्नैपड्रैगन 778G+ प्रोसेसर, 144Hz रिफ्रेश रेट डिस्प्ले और 4020mAh की बैटरी दी जा सकती है।
टिप्सटर ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए दावा किया है कि मोटोरोला भारत में मोटोरोला मोटो एज 30 को 12 मई को लॉन्च करेगी।
डिवाइस को दुनिया का सबसे पतला 5G स्मार्टफोन और सेगमेंट में सबसे हल्का 5G स्मार्टफोन कहा जाता है। इसके अलावा, लीक से पता चलता है कि मोटोरोला मोटो एज 30 स्नैपड्रैगन 778G+ प्रोसेसर से लैस भारत का पहला स्मार्टफोन होगा।
 30 में 144Hz रिफ्रेश रेट के साथ 6.5 इंच का  पैनल दिया जाएगा। इसमें ऑक्टा-कोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 778G+ प्रोसेसर दिया जा सकता है। साथ ही 8GB रैम और 256GB तक इंटरनल स्टोरेज दी जा सकती है। यह एंड्रॉइड 12 पर आधारित MyUX पर काम करता है।  में ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप दिया जा सकता है। इसमें 50MP का मेनकैमरा, 50MP का अल्ट्रा-वाइड एंगल कैमरा और 2MP का डेप्थ सेंसर शामिल है। फोन में 32MP का सेल्फी शूटर शामिल है। बैटरी की बात करें तो  में 33W  फास्ट चार्जिंग के साथ 4020mAh की बैटरी दी गई है।
इसकी यूरोपीय कीमत 450 यूरो है। भारतीय कीमत के अनुसार, यह 30,000 रुपये के आस-पास हो सकती है। अगर फोन को भारत में इसी रेंज में लॉन्च किया जाता है तो देखना यह होगा कि यह फोन किन-किन फोन्स को टक्कर दे सकता है।

26 को सुनवाई के लिए याचिका सूचीबद्ध की

26 को सुनवाई के लिए याचिका सूचीबद्ध की 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के पूर्व छात्र शरजील इमाम की जमानत याचिका को 26 मई को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया। यह मामला संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध के दौरान उनके कुछ कथित भड़काऊ भाषणों से संबंधित है। इसके साथ ही अदालत ने उन्हें जरूरी दस्तावेज पेश करने के लिए दो सप्ताह का समय दिया।
न्यायमूर्ति सिद्धार्थ मृदुल और न्यायमूर्ति रजनीश भटनागर की पीठ ने इमाम की ओर से पेश वकील को उत्तर प्रदेश में दर्ज एक अन्य प्राथमिकी से संबंधित दस्तावेज भी पेश करने को कहा।
यह मामला अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में दिए गए भाषण से संबंधित है। इसके साथ ही अदालत को सूचित किया गया कि मामले में राजद्रोह का आरोप तय करने के खिलाफ इमाम की चुनौती को भी 26 मई को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है। इमाम के वकील ने कहा कि वह जनवरी 2020 से हिरासत में हैं और इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अलीगढ़ भाषण मामले में उन्हें यह कहते हुए जमानत दे दी है कि उसमें हिंसा का कोई आह्वान नहीं था।
विशेष लोक अभियोजक अमित प्रसाद ने याचिका का विरोध किया। अभियोजन पक्ष के अनुसार, इमाम ने 13 दिसंबर, 2019 को जामिया मिलिया इस्लामिया में और 16 दिसंबर, 2019 को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कथित भाषण दिए और उन्होंने असम और पूर्वोत्तर के शेष हिस्से को भारत से काट देने की धमकी दी। सुनवाई अदालत ने 24 जनवरी को उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी।

व्हाट्सएप ग्रुप्स में 512 लोगों को जोड़ सकेंगे

व्हाट्सएप ग्रुप्स में 512 लोगों को जोड़ सकेंगे  

अखिलेश पांडेय/अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। हाल ही में यूजर्स के लिए 'रिएक्शन' फीचर लाने के बाद मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप एक और जरूरी फीचर लाने जा रहा है। नए फीचर के जरिए आप व्हाट्सएप ग्रुप्स में 512 लोगों को जोड़ सकेंगे। हालांकि फिलहाल यह फीचर सिर्फ चुनिंदा लोगों के लिए जारी किया गया है और सभी के लिए उपलब्ध नहीं है। इसके साथ ही, एक दूसरा फीचर मीडिया फाइल्स से जुड़ा होगा, जो यूजर्स को 2 जीबी तक की फाइल भेजने की सुविधा देगा। WABetainfo ने अपनी एक रिपोर्ट में स्क्रीनशॉट के साथ नए फीचर का खुलासा किया है।
जैसा कि आप इस स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं, व्हाट्सएप ग्रुप में 512 यूजर्स को जोड़ना संभव है। 
इस फीचर्स का मांग लंबे समय से की जा रही थी। फिलहाल इस फीचर को iOS प्लेटफॉर्म पर देखा गया है, और जल्द ही एंड्रॉइड बीटा यूजर्स के लिए भी जारी किया जाएगा। वर्तमान समय में आप सिर्फ 256 लोगों को एक ग्रुप में जोड़ पाते हैं। ब्लॉग पोस्ट में कहा, 'अब आप व्हाट्सएप में एक बार में 2GB तक की फाइल भेज पाएंगे, जो एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन द्वारा सुरक्षित होगी। हमें लगता है कि यह छोटे व्यवसायों और स्कूल ग्रुप्स के लिए सहायक होगा।" मैसेजिंग ऐप ने कहा कि यह अपलोड या डाउनलोड करते समय एक काउंटर भी दिखाएगा ताकि आपको पता चल सके कि आपके ट्रांसफर में कितना समय लगेगा। बता दें कि फिलहाल आप अधिकतम 100MB की मीडिया फाइल्स ही व्हाट्सएप के जरिए भेज पाते हैं।

प्रतियोगी कंपनियों को टक्कर देने के लिए तैयार

प्रतियोगी कंपनियों को टक्कर देने के लिए तैयार 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत         
नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। बीएसएनएल अपनी प्रतियोगी कंपनियों को टक्कर देने के लिए पूरी तरह से तैयार है और इसलिए कंपनी यूजर्स को लुभाने के लिए नए प्लान्स व बेनिफिट्स लेकर आ रही है। टेलिकॉम इंडस्ट्री में इन दिनों रिलायंस और जिओ एयरटेल और वीआई जैसी प्राइवेट टेलिकॉम कंपनियों को यूजर्स की नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि कुछ समय पहले प्लान्स की कीमत बढ़ाने और बे​निफिट्स को कम करने की वजह से ये कंपनियां आलोचनाओं का शिकार हो रही है।
इस बीच सरकारी टेलिकॉम कंपनी BSNL अपना सिक्का जमाने में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहती और यही वजह है कि कंपनी नए प्लान्स और बेनिफिट्स पेश कर रही है‌।ताकि यूजर्स को कम कीमत में बेहतर सुविधाएं मिल सकें। वहीं BSNL मात्र 19 रुपये में 30 दिनों की वैलिडिटी ऑफर कर रही है जो कि Jio, Airtel और Vi की नींद उड़ा देगाबता दें कि कुछ समय पहले ही ट्राई ने टेलिकॉम कंपनियों को सख्त आदेश देते हुए कहा था कि यूजर्स को 28 दिनों की बजाय एक महीने की वैलिडिटी वाले प्लान मुहैया कराए जाएंगे।
क्योंकि सोशल मीडिया पर यूजर्स काफी से 28 दिनों की वैलिडिटी के खिलाफ नाराजगी जता रहे थे और उनका कहना था कि कंपनियां एक महीने के नाम पर मात्र 28 दिन की वैलिडिटी प्रदान करती हैं। जो कि गलत है और इसलिए ट्राई को यह फैसला लेना पड़ा। जिसके बाद कंपनियों ने एक महीने की वैलिडिटी वाले कई प्लान्स बाजार में उतारें।
BSNL के 19 रुपये वाले बात करें तो कंपनी ने इसे खासतौर पर वैलिडिटी के लिए पेश किया है‌। यानि यदि कोई ग्राहक इस प्लान को रिचार्ज करता है तो उसे 30 दिनों की वैलिडिटी मिलेगी।इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि यदि आपने बीच में कोई डाटा बैलेंस नहीं लिया है तो भी आपका नंबर बंद नहीं होगा।आपकी सभी सर्विसेज चालू रहेंगी। लेकिन इसमें आपको आउटगोइंग कॉल के लिए 20 पैसे प्रति के हिसाब से शुल्क देना होगा। जबकि इनकमिंग कॉल पूरी तरह से फ्री होंगी।

चक्रवात तूफान 'असानी' का खतरा, येलो अलर्ट

चक्रवात तूफान 'असानी' का खतरा, येलो अलर्ट

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली/भुवनेश्वर। चक्रवात तूफान 'असानी' के खतरे को देखते हुए ओडिशा सरकार ने 18 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग की ओर से कहा गया है कि अगले 48 घंटे में 40-50 किमी/घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं। सरकार ने खतरे को देखते हुए NDRF की 17 और ODRAF की 20 टीमें तैनाती की हैं। 175 फायर ब्रिगेड टीमों को भी लगाया है। दूसरी ओर नोएडा के कुछ हिस्सों से ओले गिर हैं। उत्तरी राजस्थान अरावली और दिल्ली एनसीआर पर बादल छाए, जिसके कारण कुछ ही स्थानों पर बारिश और ओलावृष्टि दर्ज की गई। उधर मौसम विभाग के मुताबिक शुक्रवार सुबह दक्षिण अंडमान सागर और उससे सटे हुए दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी क्षेत्र के ऊपर लो प्रेशर का क्षेत्र बना है। उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और अगले 48 घंटों के दौरान तेजी से डिप्रेशन में बदल सकता है। मौसम विभाग ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि पुरी, ढेंकनाल और नॉर्थ कोस्टल ओडिशा के कई जिलों में शुक्रवार से लेकर शनिवार तक तेज हवाएं चल सकती हैं। अंडमान सागर में निम्न दबाव की वजह से शुक्रवार को ही साइक्लोन की रफ्तार की जानकारी मिल सकेगी।
8 मई तक भयावह रूप ले सकता है तूफान
IMD के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने बताया कि 8 मई तक साइक्लोन बंगाल की खाड़ी में प्रवेश करेगा। इसके बाद इसकी रफ्तार 75 किमी/ घंटे हो सकती है। हम अभी इस पर नजर बनाकर हुए हैं।

देश के इन राज्यों पर हो सकता है असानी का असर...
चक्रवाती तूफान असानी का असर पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय, नगालैंड, मिजोरम, झारखंड, उत्तर-पूर्व के राज्यों में देखने को मिल सकता है। बीते कुछ सालों से ओडिशा को चक्रवातों का सामना करना पड़ रहा है।

PM मोदी ने की समीक्षा बैठक...
साइक्लोन असानी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समीक्षा बैठक की है। बैठक में आपदा विभाग और मौसम विभाग के अधिकारी शामिल थे। इधर, ओडिशा सरकार ने तटीय इलाकों में खाद्य पदार्थ पहुंचाने की तैयारी भी शुरू कर दी है।
2021 में आ चुके हैं तीन साइक्लोन
भारत में 2021 में तीन साइक्लोन आ चुके हैं। दिसंबर 2021 में साइक्लोन जवाद, जबकि सितंबर 2021 में साइक्लोन गुलाब आया था। इनके अलावा, मई 2021 में साइक्लोन यास ने दस्तक दी थी।

3 दिनों में बिजली की खपत 34 मेगावाट कम

3 दिनों में बिजली की खपत 34 मेगावाट कम 

संदीप मिश्र 
कानपुर। भले ही तापमान में कुछ कमी आई हो, लेकिन बिजली संकट से निजात नहीं मिल रही है। तापमान के साथ ही 3 दिनों में बिजली की खपत 34 मेगावाट कम हो गई है। इसके बावजूद फाल्ट व शटडाउन से कई क्षेत्रों में बिजली गुल रही। 18 सबस्टेशनों से जुड़े आठ लाख लोग प्रभावित रहे। 
वहीं एचटी लाइन पर पेड़ की डाल गिरने से फूलबाग सबस्टेशन के कैंट फीडर की बिजली सुबह 9.25 बजे से 10.45 बजे तक बंद रही। एचटी लाइन टूटने से दहेली सुजानपुर सबस्टेशन के श्यामनगर व केडीए फीडर की बिजली रात 2.50 बजे से सुबह 5.10 बजे तक गुल रही। मौसम खराब होने से पराग डेयरी सबस्टेशन के सभी फीडर रात 12.01 बजे से 1.10 बजे तक बंद हो गए।
वहीं पराग डेयरी सबस्टेशन के रतनदीप फीडर की आपूर्ति रात 1.10 बजे से 2.25 बजे तक बंद रही। ट्रांसफार्मर की मरम्मत के लिए मंगला विहार-1 फीडर की बिजली दोपहर 12.05 बजे से गुल हो गई। लोड बांटने के लिए नानकारी फीडर की आपूर्ति दोपहर 3 बजे से बंद रखी गई। 
वहीं पेड़ों की छटाई के लिए बीएस सबस्टेशन के बरसाना फीडर की बिजली दोपहर 12.50 बजे से 2.30 बजे तक बंद रही। फीडर ब्रेकडाउन होने से चिड़ियाघर फीडर की बिजली दोपहर 1.10 बजे से बंद रही। फीडर ब्रेकडाउन होने से अहिरवां सबस्टेशन के रूमा गांव फीडर बिजली रात 12.10 बजे से 1.10 बजे तक गुल रही। फीडर ब्रेकडाउन होने से वाजिदपुर सबस्टेशन के दुर्गा मंदिर फीडर की आपूर्ति रात 1.25 बजे से 1.55 बजे तक बाधित रही।  
वहीं पेड़ों की छटाई व मरम्मत कार्य के लिए शुक्रवार को बारादेवी फीडर व आनंदपुरी फीडर की बिजली आपूर्ति सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक बंद रहेगी। इस दौरान मिलिट्री कैंप, परमपुरवा, टीपी नगर, हमीरपुर रोड, बाबूपुरवा कालोनी, 40 दुकान, सी, एच, एच-1,एच-2, एम, एन ब्लाक किदवई नगर क्षेत्र प्रभावित रहेंगे। 
वहीं क्षतिग्रस्त केबल को बदलने के लिए सिंहपुर में पायनियर ग्रीन सिटी ट्रांसफार्मर का शटडाउन सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक लिया जाएगा। पैनल की टेस्टिंग के लिए दयानंद विहार फीडर का शटडाउन शाम 4 बजे से 6 बजे तक लिया जाएगा। इस दौरान इंदिरानगर, दयानंद विहार, आजाद नगर की बिजली बंद रहेगी।

झांसी किले के समान, साउंड एंड लाइट शो होगा

झांसी किले के समान, साउंड एंड लाइट शो होगा 

नीरज जैन       
आगरा। किले में एक बार फिर मुगलाें की दास्तां गूंजेंगी। तीन वर्ष से अधिक समय से बंद चल रहे साउंड एंड लाइट शो के लिए पर्यटन विभाग ने टेंडर कर दिया है। नोएडा की ट्राइ कलर कंपनी को टेंडर मिला है। आगरा किले में झांसी किले के समान नई तकनीकी पर आधारित साउंड एंड लाइट शो होगा, जिसमें लेजर लाइट का भी इस्तेमाल किया जाएगा।
वहीं आगरा किला में साउंड एंड लाइट शो की शुरुआत वर्ष 2003-04 में हुई थी, कुछ समय बाद यह शो बंद हो गया था। पर्यटन निगम द्वारा वर्ष 2011 में पर्यटकों के लिए रात्रि आकर्षण के रूप में एक बार फिर साउंड एंड लाइट शो शुरू किया गया। प्रतिदिन शाम को इसके दो शो (हिंदी व अंग्रेजी) होते थे। उचित देखरेख नहीं किए जाने पर शो के लिए किले में लगाई गईं कई लाइटें खराब हो गई थीं। साउंड क्वालिटी भी बढ़िया नहीं थी। मार्च, 2019 में तत्कालीन कमिश्नर अनिल कुमार ने आगरा किला की विजिट के दौरान शो देखा था। उनकी विजिट के बाद एक अप्रैल, 2019 को शो अचानक बंद कर दिया गया था।
वहीं शो को अपग्रेड करने के लिए पर्यटन विभाग ने विश्व बैंक सहायतित प्रो-पुअर टूरिज्म डवलपमेंट प्रोजेक्ट में 12 करोड़ रुपये का प्रस्ताव तैयार किया था। इसमें अमिताभ बच्चन से वोइस ओवर दिलाने की बात कही जा रही थी। विश्व बैंक ने इसे सैद्धांतिक सहमति प्रदान नहीं की थी, जिसके चलते शो पर तीन वर्षों से ताला लटका रहा। 
वहीं पर्यटन विभाग द्वारा पिछले माह मुख्यालय स्तर पर शो की शुरुआत को टेंडर किया गया था। नोएडा की ट्राइ कलर कंपनी को यह टेंडर मिला है। अब कंपनी की टीम यहां आकर साइट विजिट करेगी। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) और पर्यटन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर शो की शुरुआत की रूपरेखा तय की जाएगी।
वहीं आगरा किला में साउंड एंड लाइट शो की शुरुआत को पेपर वर्क पूरा हो चुका है। कंपनी की टीम शीघ्र यहां आकर विजिट करेगी। झांसी के किले में हो रहे साउंड एंड लाइट शो में प्रयुक्त नई तकनीकी व लेजर लाइट का इस्तेमाल शो में किया जाएगा।

बिहार: 'दारोगा भर्ती परीक्षा' का रिजल्ट जारी

बिहार: 'दारोगा भर्ती परीक्षा' का रिजल्ट जारी  

अविनाश श्रीवास्तव  
पटना। बिहार पुलिस की दारोगा भर्ती परीक्षा का रिजल्ट शुक्रवार को जारी हो गया। दारोगा के पदों के लिए आयोजित मुख्य परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों में कुल 14 हजार 856 अभ्यर्थी सफल हुए हैं। बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग की आधिकारिक वेबसाइट https://www.bpssc.bih.nic.in/ पर अभ्यर्थी परीक्षा का रिजल्ट देख सकते हैं। 
भर्ती प्रक्रिया के माध्यम से बिहार पुलिस में एसआई और सार्जेंट के 2213 पद भरे जाएंगे। पुलिस अवर निरीक्षक के 1998 और सार्जेंट के 215 पदों पर नियुक्ति होगी।

रेड लाइट सिग्नल जंप, ₹2000 का जुर्माना

रेड लाइट सिग्नल जंप, ₹2000 का जुर्माना 

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। ट्रैफिक नियम तोड़ना अब लोगों को बेहद भारी पड़ेगा। लापरवाही से गाड़ी चलाने वाले या रेड लाइट सिग्नल जंप करने वालों से 300 नहीं, बल्कि 2000 रुपए का जुर्माना वसूला जाएगा। नए मोटर एक्ट व्हीकल के तहत यह जुर्माना लिया जाएगा। अभी तक ई-चालान या मौके पर रेड लाइट जंप करने वालों से पुराने नियम के तहत ही 300 रुपए का जुर्माना लिया जाता था।
केवल उन्हीं मामलों में 2000 का जुर्माना होता था जो मामले कोर्ट जाते थे। लेकिन अब घरों में आने वाला ई-चालन और मौके पर ही पकड़ाने पर लोगों को 2000 रुपए का जुर्माना देना होगा। ट्रैफिक अफसरों का कहना है कि सभी चौक-चौराहों पर ट्रैफिक सिग्नल लगातार काम कर रहे हैं। इसके बावजूद लोग रेड लाइट सिग्नल की अनदेखी कर आगे बढ़ जाते हैं। इससे हादसों की संभावना भी बढ़ जाती है। ऐसे लोगों के घरों पर ई-चालान भी भेजे जा रहे थे। लेकिन लगातार इस तरह की लापरवाही सामने आने के बाद यह फैसला लिया गया है।कि अब सिग्नल जंप करने वालों से कड़ाई से निपटा जाएगा।
इन सभी लोगों से 200 की जगह 10 गुना ज्यादा जुर्माना लिया जाएगा। ट्रैफिक डीएसपी सतीश ठाकुर ने बताया कि रेड लाइट जंप के अलावा रांग साइड मूवमेंट, बिना हेलमेट, दोपहिया में तीन सवारी, तेज रफ्तार एवं स्टाफ लाइन का उल्लंघन करने वाले लोगों पर भी सख्ती से कार्रवाई की जा रही है। कैमरों से निगरानी करने के बाद ऐसे लोगों को सबसे ज्यादा ई-चालान भेजे जा रहे हैं। इसके अलावा जुर्माना अदा करने की सूचना ऐसे लोगों को उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर और व्हाट्सएप मैसेज पर भी दिए जा रहे हैं।
अफसरों ने बताया कि रेड लाइट जंप करने वाले या ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वाले लोगों की जानकारी आम लोग भी दे सकते हैं। नियमों का उल्लंघन करने वालों का फोटो खींचकर या वीडियो बनाकर उसे ट्रैफिक विभाग को मोबाइल नंबर 9479191234 पर व्हाट्सअप कर भेजा जा सकता है।
आम लोगों की ओर से भेजे गए वीडियो फुटेज एवं फोटो के आधार पर यातायात पुलिस ऐसे सभी लोगों को ई-चालान भेजकर जुर्माना वसूल करेगी। आम लोगों को घटना का वीडियो फुटेज या फोटो डिटेल के साथ देना अनिवार्य होगा। शिकायत करने वाले का नाम और पता गोपनीय रखा जाएगा।
रेड लाइट जंप करने वाले लोगों से 2000 का जुर्माना वसूल करने के साथ ही ऐसे लोगों से भी भारी जुर्माना वसूल किया जाएगा तो रश ड्राइविंग या लापरवाही से गाड़ी चलाते हैं। इनसे अब 2000 रुपए का जुर्माना वसूल किया जाएगा। पहले ऐसे लोगों से 1000 रुपए का जुर्माना लिया जाता था, दूसरी बार फिर इसी तरह की लापरवाही करते पकड़े गए तो ऐसे लोगों से दूसरी बार में 5000 रुपए का जुर्माना वसूल किया जाएगा।

पार्टी कार्यकर्ता की लाश मिलने से फैली सनसनी

पार्टी कार्यकर्ता की लाश मिलने से फैली सनसनी 

मिनाक्षी लोढी  
कोलकाता। गृहमंत्री अमित शाह के कोलकाता में कार्यक्रम से पहले पार्टी कार्यकर्ता की लाश मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई है। कोलकाता के चितपुर में पार्टी कार्यकर्ता अर्जुन चौरसिया की लाश लटकी हुई मिली है। भाजपा ने इसे हत्या बताते हुए कोलकाता में गृहमंत्री अमित शाह का कार्यक्रम स्थगित कर दिया है।
उत्तर कोलकाता के भाजपा अध्यक्ष कल्याण चौबे का दावा है कि भाजपा युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष, सक्रिय कार्यकर्ता की बॉडी आज सुबह लटकी हुई मिली है। उन्होंने कहा कि वह बहुत कुशल थे, हमने कल रात उनके नेतृत्व में 200 बाइक रैली आयोजित करने की योजना बनाई थी, लेकिन आज सुबह उन्हें घोष बागान रेल यार्ड में मृत पाया।दरअसल, आज गृहमंत्री अमित शाह कोलकाता के दौरे पर जाने वाले हैं, इसी बीच बीजेपी लीडर की बॉडी मिलने से हड़कंप मच गया। बता दें कि इससे पहले नवंबर में पूर्व मिदनापुर जिले में बीजेपी कार्यकर्ता की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। बीजेपी कार्यकर्ता का नाम शंभु माइती था।

1 अक्टूबर से बिजली पर सब्सिडी स्वैच्छिक

1 अक्टूबर से बिजली पर सब्सिडी स्वैच्छिक  

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। दिल्ली में 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली दी जाती है। हालांकि अब दिल्ली में उन्हीं लोगों को बिजली पर सब्सिडी मिलेगी। जो लोग सब्सिडी मांगेंगे। दिल्ली में एक अक्टूबर से बिजली पर सब्सिडी स्वैच्छिक होने जा रही है। दिल्ली सरकार सभी बिजली उपभोक्ताओं को सब्सिडी चुनने या छोड़ने का विक्लप देगी। दिल्ली कैबिनेट ने गुरूवार को यह अहम निर्णय लिया है‌। उल्लेखनीय है कि केजरीवाल सरकार ने 2016-17 में बिजली सब्सिडी योजना की शुरुआत की थी।
सरकार द्वारा दिल्ली वालों को कई कैटेगरी में बांट कर बिजली पर सब्सिडी प्रदान की जाती है।यहां 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली दी जाती है। 200 यूनिट से कम बिजली की खपत करने वाले उपभोक्ताओं का 100 फीसदी बिजली का बिल माफ होता है। दिल्ली में 200 यूनिट से नीचे बिजली की खपत करने वाले उपभोक्ताओं की संख्या करीब 30,39,766 है, जिनको जीरो बिल का लाभ मिल रहा है।
वहीं, 201 से 400 यूनिट तक बिजली की खपत करने वाले उपभोक्तओं को अधिकतम 800 रुपए तक की सब्सिडी दी जाती है। इस क्षेणी में दिल्ली में करीब 16,59,976 बिजली उपभोक्ता हैं, जिनको इसका लाभ मिल रहा है। इस तरह कुल 46,99,742 घरेलु उपभोक्ताओं को सब्सिडी योजना का लाभ मिल रहा है। इसके अलावा, दिल्ली में रहने वाले 1984 के सिख दंगा पीड़ितों को भी केजरीवाल सरकार द्वारा बिजली पर सब्सिडी प्रदान की जाती है। दिल्ली में सिख दंगा पीड़ित 758 बिजली उपभोक्ताओं को इसका लाभ मिल रहा है। साथ ही, केजरीवाल सरकार किसानों को भी 125 यूनिट तक बिजली मुफ्त देती है, जो आगे भी जारी रहेगी। इसका करीब 10,676 किसानों को लाभ आगे भी मिलता रहेगा।
सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बिजली का बिल देने में सक्षम लोगों से मिले सुझावों के बाद यह निर्णय लिया गया है। बिजली पर सब्सिडी चाहिए या नहीं चाहिए, इसके लिए सरकार हर उपभोक्ता को अब विकल्प देगी। जो लोग सब्सिडी मांगेंगे, उसको सब्सिडी मिलेगी और जो लोग सब्सिडी नहीं मांगेंगे, उनको नहीं मिलेगी। दिल्ली कैबिनेट ने वित्तीय वर्ष 2022-23 में भी बिजली सब्सिडी योजना को जारी रखने का निर्णय लिया है। कैबिनेट के इस फैसले से कोरोना महामारी के बाद महंगाई की मार झेल रहे दिल्ली के करीब 47,11,176 बिजली उपभोक्ताओं को काफी राहत मिलेगी। पिछले वर्ष की भांति जारी वित्तीय वर्ष (2022-23) में भी घरेलू बिजली उपभोक्ताओं, किसानों, कोर्ट परिसर, वकीलों के चैंबर और 1984 सिख दंगा पीड़ितों को बिजली पर सब्सिडी का लाभ मिलता रहेगा।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक में बिजली विभाग की तरफ से बिजली सब्सिडी योजना को आगे भी जारी रखने का प्रस्ताव रखा गया। प्रस्ताव में कहा गया कि दिल्ली सरकार की तरफ से घरेलू उपभोक्ताओं, किसानों, कोर्ट परिसर और वकीलों के चैंबर्स को उनके खपत के आधार पर कई कैटेगरी में बांटकर सब्सिडी दी जाती है, जिसे आगे जारी रखा जाना चाहिए। कैबिनेट ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली कैबिनेट के निर्णय की जानकारी देते हुए कहा कि दिल्ली में बहुत सारे लोगों को फ्री बिजली मिलती है। इसके लिए दिल्ली सरकार सब्सिडी देती है।बीच-बीच में कई लोगों के सुझाव भी आते हैं और कई लोगों की चिट्ठी आती है। वे कहते हैं कि यह अच्छी बात है कि दिल्ली सरकार हमें फ्री बिजली दे रही है, लेकिन हमारे में से कुछ लोग हैं, जो बिजली का बिल देने सक्षम हैं, इसलिए हम फ्री बिजली नहीं लेना चाहते हैं। हम आपकी सब्सिडी नहीं लेना चाहते हैं। आप इस पैसे को कहीं स्कूल और अस्पताल बनाने में इस्तेमाल कर लीजिए। इसलिए अब हमने तय किया है कि दिल्ली सरकार बिजली सब्सिडी के लिए एक विकल्प देगी। हम लोगों से पूछेंगे कि क्या आपको बिजली की सब्सिडी चाहिए।‌ अगर वो कहेगा कि हां, हमें बिजली की सब्सिडी चाहिए, तो हम उसको सब्सिडी देंगे। अगर वो कहेगा कि हमें बिजली की सब्सिडी नहीं चाहिए, तो हम उनको सब्सिडी नहीं देंगे। सब्सिडी चाहिए या नहीं चाहिए, यह लोगों से पूछने का काम जल्दी शुरू होगा। एक अक्टूबर से दिल्ली के अंदर उन्हीं लोगों को बिजली की सब्सिडी दी जाएगी, जो लोग बिजली की सब्सिडी मांगेंगे।वहीं, 201 से 400 यूनिट तक बिजली की खपत करने वाले उपभोक्तओं को अधिकतम 800 रुपए तक की सब्सिडी दी जाती है। इस क्षेणी में दिल्ली में करीब 16,59,976 बिजली उपभोक्ता हैं, जिनको इसका लाभ मिल रहा है। इस तरह कुल 46,99,742 घरेलु उपभोक्ताओं को सब्सिडी योजना का लाभ मिल रहा है। इसके अलावा, दिल्ली में रहने। वाले 1984 के सिख दंगा पीड़ितों को भी केजरीवाल सरकार द्वारा बिजली पर सब्सिडी प्रदान की जाती है। दिल्ली में सिख दंगा पीड़ित 758 बिजली उपभोक्ताओं को इसका लाभ मिल रहा है। साथ ही, केजरीवाल सरकार किसानों को भी 125 यूनिट तक बिजली मुफ्त देती है, जो आगे भी जारी रहेगी। इसका करीब 10,676 किसानों को लाभ आगे भी मिलता रहेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने बघेल पर साधा निशाना

पूर्व मुख्यमंत्री ने बघेल पर साधा निशाना 

दुष्यंत टीकम 
रायपुर। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने प्रदेश सरकार और सीएम भूपेश बघेल पर निशाना साधा है। उन्होंने प्रदेश में हो रहे सीएम और मंत्रियों के दौरे को लेकर सरकार पर तंज कसा है।
रमन सिंह ने सीएम भूपेश बघेल और मंत्रियों के दौरे पर कहा कि एक यात्रा का मुंह उत्तर दिशा में है, एक दक्षिण दिशा में है। टीएस सिंहदेव की यात्रा में कलेक्टर-एसपी को प्रतिबंधित किया गया है। साढ़े तीन साल की सरकार में ये हाल हो गया।
सीएम भूपेश बघेल के दौरे पर तंज कसते हुए पूर्व सीएम रमन सिंह ने कहा कि 30 बिंदुओं पर हम भी विकास यात्रा और ग्राम सुराज यात्रा निकाला करते थे। जबकि अब जो यात्रा हो रहा है उसमें तीन हेलीकॉप्टर के साथ मन पसंद और चमचमाते गद्दे रखे हैं। रेड कार्पेट बिछा हुआ है। ये कैसी यात्रा है। हेलीकॉप्टर में बैठी सरकार की सोच भी हवाई है। बच्चों को 10 मिनट हेलीकॉप्टर में बैठाने से उनके जीवन में कोई बड़ा परिवर्तन नहीं आएगा।
रमन सिंह ने कहा कि सरकार यात्रा में अधिकारियों पर कार्रवाई कर रही है। 25 रुपया प्रति टन कोल में वसूली इस सरकार में हो रहा है। किस कलेक्टर और किस एसपी का कितना रेट है इस सरकार में सब जानते हैं। सरकार भ्रष्टाचार में डूबी है। ये यात्रा तभी सफल होगी जब प्रधानमंत्री आवास योजना का क्रियान्वयन होगा। बीजेपी यात्रा से डरी हुई नहीं है। योजनाओं में समस्या का निराकरण जरूरी है।
सीएम के एक बयान पर उन्होंने कहा कि विधायकों का नहीं बल्कि सरकार का परफॉर्मेंस ही खराब है। सर्वे में आया है कि पूरा सफाया होने वाला है। इसलिए इसलिए इस तरह की यात्रा सरकार की परफॉर्मेंस सुधारने की कवायद है।
पूर्व सीएम ने कहा कि हम सरकार के कामकाज की समीक्षा कर रहें, गौठान देख रहें हैं। वर्तमान सरकार और पुरानी सरकार के काम जान रहे हैं। सबका जवाब आएगा और बीजेपी सरकार में आएगी। छत्तीसगढ़ विकास मांगता है। वहीं उन्होंने कहा कि संस्कृति और परंपरा को मजबूत करना गलत नहीं।
ट्रेनों के कैंसल होने और लोगों की समस्याओं पर पूर्व सीएम रमन सिंह ने कहा कि रेल मंत्री से बात हुई है। कोयला का परिवहन जरूरी है। लेकिन यात्रियों को परेशानी नहीं होनी चाहिए. जल्द कुछ ना कुछ हल निकलना चाहिए।
2023 में होने वाले छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। इसी कड़ी में भाजपा अब प्रदेश के बूथों पर फोकस कर रही है। वहीं बीजेपी प्रदेश प्रभारी और सह प्रभारी का लगातार दौरा हो रहा है। भाजपा का ध्यान फिलहाल बूथ का विस्तार करने की ओर है। इसे लेकर पूर्व सीएम रमन सिंह ने कहा कि बूथ विस्तारक 10 दिन की यात्रा में वे 10 बूथों में जा रहे हैं। जहां वे समीक्षा कर रहे हैं। बता दें कि रमन सिंह राजनांदगांव के विभिन्न बूथ की जिम्मेदारी संभालेंगे।

आम को पानी में भिगोना, बेहद फायदेमंद

आम को पानी में भिगोना, बेहद फायदेमंद   

सरस्वती उपाध्याय          
गर्मियों का मौसम आते ही आम का मौसम भी पूरे शबाब पर होता है। जैसे-जैसे गर्मियां बढ़ती हैं, बाजार में तरह-तरह के आम दिखाई देने लगते हैं। एक बार बाजार जाएं, तो दूर से ही आपको आम  की खुशबू खींच लेती है। खास बात है कि फलों का ये राजा गर्मियों में आपके शरीर को कूल रखने में काफी मदद करता है। इसलिए लोग आम को अलग-अलग तरीके से डाइट में शामिल करते हैं। हालांकि, इसे खाने से पहले लोग आम को कुछ देर के लिए पानी में भिगोकर रखते हैं। हालांकि ये नानी-दादी के जमाने का तरीका है, लेकिन ये आज भी कारगर है।
जानकार बताते हैं कि आम को खाने से पहले पानी में भिगोना हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद है।इससे आप एक नहीं, बल्कि कई समस्याओं से खुद को बचा सकते हैं। अक्सर लोगों को लगता है कि ऐसा करने के पीछे गंदगी या फिर आम पर लगे केमिकल्स भी वजह हो सकते है। जो काफी हद तक सही भी है, लेकिन इसके अलावा भी कई ऐसे कारण हैं, जिनसे आप अनजान हैं। अगर आप बाजार से आम लाने के बाद उसे तुरंत खाना शुरू कर देते हैं, तो ये आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। जानिए आम को 30 मिनट भिगोकर रखने के फायदे।
न्यूट्रीशनिस्ट रुजुता दिवाकर के अनुसार आम को खाने से पहले कम से कम 30 मिनट के लिए पानी में भिगोकर रखना चाहिए। इसके बाद खाना त्वचा के लिए बेहतर होगा। बचपन में आपने भी नोटिस किया होगा कि कई बच्चे जो आम ज्यादा खाते थे, उन्हें फोड़े निकलते थे। आज भी ऐसा कई लोगों के साथ होता है, कई लोगों को आम खाने से पिंपल्स, एक्ने या फिर अन्य स्किन प्रॉब्लम्स शुरू हो जाती हैं। इसके अलावा कब्ज, सिरदर्द या फिर पेट से जुड़ी दूसरी समस्याओं से दो-चार होना पड़ता है। ऐसे में पानी में इसे कुछ देर भिगोकर रखने से आम की गर्म तासीर से छुटकारा मिल सकता है‌।
आम के पेड़-पौधों में हानिकारक कीटनाशक और इंसेक्टिसाइड का इस्तेमाल किया जाता है। ये आपकी बॉडी के लिए जहरीले हो सकते हैं। अगर ये आपके शरीर में चले जाएं तो एलर्जी, स्किन इरिटेशन या फिर अन्य गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। कई बार सिर दर्द, मतली जैसी समस्याएं भी बिना भिगोये आम खाने से होती हैं। इसलिए इसे पानी में डुबोकर कुछ देर के लिए छोड़ दें और फिर खाएं।
आम फैट बर्न करने में मददगार होता है। आम में फाइटो केमिकल्स स्ट्रॉन्ग होते हैं, ऐसे में जब हम इसे पानी सोखने के लिए रखते हैं, तो इनका कॉन्सन्ट्रेशन कम हो जाता है, और वे नेचुरल फैट बस्टर के रूप में कार्य करते हैं।

बॉडी टेम्परेचर को रखता है मेंटेन...
आम खाने से शरीर का तापमान बढ़ जाता है, जिसकी वजह से थर्मोजेनिक का प्रोडक्शन होता है। हालांकि, आम को थोड़ी देर पानी में भिगोने से इसे कम करने में मदद मिलेगी। दरअसल, थर्मोजेनिक प्रोडक्शन का बढ़ना एक्ने, कब्ज, सिर दर्द जैसी परेशानियों का कारण बन सकता है।
​फाइटिक एसिड से छुटकारा
फाइटिक एसिड एक तरह का न्यूट्रिशन है, जोआपकी बॉडी के लिए अच्छा और बुरा दोनों हो सकता है। इसे एक एंटी न्यूट्रीएंट माना जाता है, जो शरीर को आयरन, जिंक, कैल्शियम और अन्य मिनरल्स को अब्जॉर्ब करने से रोकता है।‌ जिसके कारण बॉडी में मिनरल्स की कमी होने लगती है। वहीं आम ही नहीं बल्कि अन्य फल, सब्जियां और नट्स में भी नेचुरल मॉलीक्यूल यानी फाइटिक एसिड होता है। फाइटिक एसिड बॉडी में हीट जेनरेट करता है, ऐसे में कुछ देर तक पानी में रखने से ये निकल जाता है।

'नाम रह जाएगा' में मंगेशकर की जीवन यात्रा

'नाम रह जाएगा' में मंगेशकर की जीवन यात्रा  

कविता गर्ग
मुंबई। नाम रह जाएगा के आने वाले एपिसोड में, हम महान लता मंगेशकर की जीवन यात्रा देखेंगे और साथ ही साथ गायक मुकेश के साथ उनके बंधन के बारे में गहराई से जानेंगे। भारत के सबसे प्रसिद्ध गायक मुकेश के बेटे नितिन मुकेश उस समय भावुक हो गए, जब उन्होंने युवा लता मंगेशकर से जुड़ी यादो को ताजा करते हुए बताया कि किस तरह से वह सफेद कपड़ो में प्यारी लग रही थी, और उन्होंने मां सरस्वती की तरह गाया था।
नितिन मुकेश ने अपने पिता मुकेश द्वारा गायिका लता मंगेशकर के साथ साझा किए गए बंधन के बारे में बात करते हुए कहा, "मुकेश, लता मंगेशकर को 'दीदी' कहते थे। वह मुझसे कहते थे कि मैं उन्हें दीदी कहता हूं। ताकि आने वाली पीढ़ियां समझ सकें कि आप उन्हें उनके नाम से नहीं बुला सकते। वह एक लेजेंड हैं और आपको उन्हें 'दीदी' कहना होगा और भी पुरानी यादों को ताजा करते हुए वह कहते हैं। "दीदी मेरे पिता मुकेश को 14-15 साल की उम्र से जानती थीं। वह मेरे पिता को एक बहन की तरह राखी बांधती थीं। मुझे याद है कि मैं 4-5 साल का था और अपने पिता के साथ जाता था। गाने के रिकॉर्डिंग स्टूडियो में सिर्फ एक झलक पाने के लिए। वह एक पतली, सुंदर महिला थी, जो एक सफेद साड़ी पहनती थी और उनकी दो चोटियां होती थीं और वह मां सरस्वती की तरह गाती थी।
गजेंद्र सिंह द्वारा परिकल्पित और निर्देशित, साईंबाबा स्टूडियोज के 8 एपिसोड सीरीज 'नाम रह जाएगा' में देश के अठारह सबसे बड़े गायक शामिल हैं। इसमें सोनू निगम, अरिजीत सिंह, शंकर महादेवन, नितिन मुकेश, नीति मोहन, अलका याज्ञनिक, साधना सरगम ​​, उदित नारायण, शान, कुमार शानू, अमित कुमार, जतिन पंडित, जावेद अली, ऐश्वर्या मजूमदार, स्नेहा पंत, प्यारेलाल जी, पलक मुच्छल और अन्वेषा ने लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि देने के लिए हाथ मिलाया हैं।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 3,545 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 3,545 नए मामलें  

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। भारत में एक बार फिर धीरे-धीरे कोरोनावायरस के मामले बढ़ने लगे हैं। देश में पिछले 24 घंटे में 3,545 नए कोविड मामलें सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों से इसकी जानकारी मिली है।
जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, 3,545 नए कोविड मामले रिपोर्ट होने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या 4,30,94,938 पहुंच गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि गुरुवार की तुलना में आज नए कोविड मामलों में 8 फीसदी का इजाफा हुआ है. देश में गुरुवार को 3,275 नए कोविड मामले सामने आए थे, जबकि 55 लोगों ने कोरोना के चलते अपनी जान गंवाई थी।
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में कोरोना से 27 लोगों की मौत हुई है। अगर कोरोना मृतकों की संख्या की तुलना कल के आंकड़ों से करें तो पता चलता है कि पिछले 24 घंटे में कम लोगों ने जान गंवाई है। अभी तक देश में 5,24,002 लोगों ने कोविड के चलते अपनी जान गंवाई है। आंकड़ों के मुताबिक, डेली पॉजिटिविटी रेट 1.07 फीसदी पर है।
जबकि वीकली पॉजिटिविटी रेट 0.70 फीसदी पर है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि एक दिन में 3,549 लोगों ने कोरोना को मात दी है। इस तरह अभी तक कोरोना से रिकवर होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 4,25,51,248 हो गई है। देश में रिकवरी रेट 98.74 फीसदी पर पहुंच गया है।

हादसा: रेलवे ट्रैक पर बम विस्फोट से दहशत

हादसा: रेलवे ट्रैक पर बम विस्फोट से दहशत  

इकबाल अंसारी
पुडुचेरी। पुडुचेरी के करमानिकुप्पम में रेलवे ट्रैक पर बम विस्फोट से ट्रैक के किनारे रहने वाले लोगों में दहशत फैल गई। विस्फोट की तेज आवाज सुनकर लोग अपने घरों से बाहर निकले और ट्रैक पर पहुंचे तो देखा कि ट्रैक पर एक देसी बम फटा हुआ है।
विस्फोट में हालांकि, ट्रैक क्षतिग्रस्त नहीं हुआ और कुछ समय बाद पुड्डुचेरी-चेन्नई एक्सप्रेस सुरक्षित रूप से गुजर गयी। लोगों ने घटना की सूचना ऑरलियनपेट पुलिस को दी। जिसके बाद पुलिस टीम घटनास्थल पर पहुंची। बम दस्ते को बुलाया गया, जिसने यह पुष्टि की कि यह एक देसी बम था।
पुलिस ने ट्रैक के आस-पास के इलाके की तलाशी ली और उसे कुछ बिना फटे हुए बम मिले। जिन्हें जब्त कर लिया गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि ट्रैक पर बम रखने के पीछे क्या मकसद था। उपद्रवी ट्रेन को पटरी से उतारना चाहते थे या किसी की हत्या करने के मकसद से यह विस्फोट किया गया था।

यूपी: ई-लाइब्रेरी पोर्टल प्रारंभ कर रहीं सरकार

यूपी: ई-लाइब्रेरी पोर्टल प्रारंभ कर रहीं सरकार 

संदीप मिश्र  

लखनऊ। यूपी में योगी सरकार शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ बनाने के क्रम में छात्रों तक अध्ययन सामग्री को आसानी से उपलब्ध कराने के लिये ई-लाइब्रेरी पोर्टल शुरू कर रही है। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से गुरुवार को जारी बयान के अनुसार शिक्षा विभाग की 100 दिनों की कार्ययोजना के मुताबिक ई-लाइब्रेरी पोर्टल की मदद से किताबों तक छात्रों की पहुंच आसान होगी और छात्र कहीं भी रहकर अपनी पढ़ाई कर सकेंगे।

ई-लाइब्रेरी पोर्टल पर सम सामायिक और सन्दर्भ सामग्री उपलब्ध रहेगी। इसके माध्यम से सतत अध्ययन सुविधा मिलने के कारण लगभग 30 लाख विद्यार्थी लाभान्वित होंगे।

यूपी सरकार द्वारा विकसित किये जा रहे ई-लाइब्रेरी पोर्टल के माध्यम से छात्र कहीं भी कभी भी अध्ययन से संबंधित अपनी समस्याओं का समाधान या प्रश्नों के उत्तर अपने मोबाइल फोन और टैबलेट पर पा सकेंगे। यह पोर्टल विकसित करने से जुड़े जानकारों का दावा है कि शिक्षा को मनोरंजक तरीके से छात्रों तक पहुंचाने के लिये ई-लाइब्रेरी उपयोगी साबित होगी। इससे शिक्षा के स्तर में बढ़ोत्तरी तो होगी ही साथ ही डिजिटल शिक्षा को एक नया आयाम हासिल होगा।

केंद्र व सरकार के बीच विवाद, पीठ तक पहुंचा

केंद्र व सरकार के बीच विवाद, पीठ तक पहुंचा 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। अधिकारियों के ट्रांसफर-पोस्टिंग को लेकर केंद्र व दिल्ली सरकार के बीच फैला विवाद अब संविधान पीठ के पास पहुंच गया है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मामले की सुनवाई करते हुए इस मसले को संविधान पीठ को सौंप दिया है। अब 11 मई को पांच जजों वाली बेंच इस मसले की सुनवाई करेगी। इसके साथ ही कार्ट ने कहा है कि, इस मामले का जल्द से जल्द निपटारा किया जाएगा। इसलिए कोई भी पक्ष सुनवाई टालने के लिए आवेदन न करे।
दरअसल, दिल्ली सरकार अधिकारियों पर पूर्ण नियंत्रण की मांग कर रही है। इसको लेकर एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गई थी, जिस पर सुनवाई चल रही है। उधर, केंद्र सरकार की तरफ से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने मामले को संविधान पीठ को सुनवाई के लिए रेफर करनी की मांग की थी।

ट्रांसफर-पोस्टिंग का अधिकार उपराज्यपाल के पास...
गौरतलब है कि पिछले साल केंद्र सरकार द्वारा इस मामले में संशोधन के बाद से दिल्ली में अधिकारियों की ट्रांसफर-पोस्टिंग का अधिकार एलजी यानी उपराज्यपाल के पास है। गौरतलब है कि पिछली सुनवाई के दौरान केंद्र की तरफ से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि ये मामला दिल्ली अधिनियम से हुए संशोघन से भी जुड़ा है। दिल्ली सरकार इस संशोधन का विरोध कर रही है।
पहले दो सदस्यीय पीठ ने की थी सुनवाई।
इस याचिका पर सबसे पहले दो सदस्यी पीठ ने सुनवाई की थी। सुप्रीम कोर्ट की दो सदस्यीय पीठ ने इस मामले के लिए तीन सदस्यीय बेंच के गठन की सिफारिश की थी। 14 फरवरी 2019 को जस्टिस एके सीकरी और अशोक भूषण ने सीजेआई से सिफारिश की थी कि सुनवाई के लिए तीन सदस्यीय बेंच गठित की जाए। यह दोनों जज अब सेवानिवृत्त हो चुके हैं। अब यह मामला संविधान पीठ को भेजा गया है, जिस पर पांच जजों की बेंच सुनवाई करेगी।  

सुनाए थे अलग-अलग फैसले...
पूर्व में सुनवाई करते हुए जस्टिस भूषण ने फैसला सुनाया था कि दिल्ली सरकार के पास किसी भी प्रशासनिक सेवा का अधिकार नहीं है। हालांकि, जस्टिस सीकरी ने कहा था कि संयुक्त निदेशक या इससे ऊपर के अधिकारियों के ट्रांसफर और पोस्टिंग का अधिकारी केवल केंद्र सरकार के पास हो सकता है। वहीं, अन्य प्रशासनिक पदों पर मतभेद की स्थिति में लेफ्टिनेंट गवर्नर का निर्णय मान्य होगा।

पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बढ़ोतरी नहीं

पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बढ़ोतरी नहीं  

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल 105.41 रुपये प्रति लीटर जबकि डीजल 96.67 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत 120.51 रुपये व डीजल की कीमत 104.77 रुपये प्रति लीटर है।
तेल कंपनियों की तरफ से शुक्रवार को भी पेट्रोल और डीजल के दामों में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है। दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल 105.41 रुपये प्रति लीटर जबकि डीजल 96.67 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत 120.51 रुपये व डीजल की कीमत 104.77 रुपये प्रति लीटर है।
कोलकाता में पेट्रोल का दाम 115.12 रुपये जबकि डीजल का दाम 99.83 रुपये प्रति लीटर है। वहीं चेन्नई में भी पेट्रोल 110.85 रुपये प्रति लीटर तो डीजल 100.94 रुपये प्रति लीटर है। बता दें कि पिछले वर्ष 4 नवंबर के बाद से इन दोनों ईंधन के मूल्य में कोई वृद्धि नहीं की गई थी।
सरकार के राजनीतिक विरोधियों का आरोप था कि पांच राज्यों के चुनाव के कारण मोदी सरकार ने तेल कंपनियों को मूल्य बढ़ाने से रोक रखा था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव 112 डॉलर प्रति बैरल पहुंचने के बाद रविवार को तेल कंपनियों ने डीजल के थोक खरीदारों के लिए मूल्य में 25 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की थी। तेल डीलरों का कहना है कि खुदरा मूल्य में धीरे-धीरे वृद्धि की जाएगी।
जानें प्रमुख महानगरों में कितनी है कीमत
आज दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में एक लीटर पेट्रोल और डीजल की कीमतें इस प्रकार हैं।

शहर, डीजल-पेट्रोल...
दिल्ली - 96.67/ 105.41
मुंबई- 104.77/ 120.51
कोलकाता- 99.83/ 115.12
चेन्नई-100.94/ 110.85
(पेट्रोल-डीजल की कीमत रुपये प्रति लीटर में है।) 
इन राज्यों में 100 रुपये के पार पेट्रोल का भाव
बता दें कि मध्यप्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, ओडिशा, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में पेट्रोल का भाव 100 रुपये से ऊपर चल रहा है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत सबसे अधिक है।
पेट्रोल-डीजल की कीमत आप एसएमएस के जरिए भी जान सकते हैं। इंडियन ऑयल की वेबसाइट पर जाकर आपको RSP और अपने शहर का कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। हर शहर का कोड अलग-अलग है, जो आपको आईओसीएल की वेबसाइट से मिल जाएगा।
बता दें कि प्रतिदिन सुबह छह बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। सुबह छह बजे से ही नई दरें लागू हो जाती हैं। पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है।
इन्हीं मानकों के आधार पर पर पेट्रोल रेट और डीजल रेट रोज तय करने का काम तेल कंपनियां करती हैं। डीलर पेट्रोल पंप चलाने वाले लोग हैं। वे खुद को खुदरा कीमतों पर उपभोक्ताओं के अंत में करों और अपने स्वयं के मार्जिन जोड़ने के बाद पेट्रोल बेचते हैं। पेट्रोल रेट और डीजल रेट में यह कॉस्ट भी जुड़ती है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-210, (वर्ष-05)
2. शनिवार, मई 7, 2022
3. शक-1944, वैशाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि-षष्ठी, विक्रमी सवंत-2079। 
4. सूर्योदय प्रातः 05:38, सूर्यास्त: 06:57।
5. न्‍यूनतम तापमान- 28 डी.सै., अधिकतम-40+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
              (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...