गुरुवार, 5 दिसंबर 2019

बहन को इंसाफ के लिए युवक पहुंचा कोतवाली

एसएल कश्यप। 
सहारनपुर! बहन को इंसाफ दिलाने की मांग को लेकर शामली का एक युवक परिजनों संग पुलिस लाइन पहुंचा। पुलिस लाइन में शामली निवासी मानसिंह ने बताया कि उसके बहन की शादी 10 वर्ष पूर्व कोतवाली नगर क्षेत्र की राधा विहार में हुई थी। उसके चार बच्चे हैं। आरोप लगाया कि ससुरालवालों ने जान से मारने की नियत से उसे नशीली गोलियां खिलाकर रेल पटरी पर रख दिया, जिससे उसके दोनों पैर कट गये। मानसिंह ने कहा कि ससुराल वाले उसकी बहन को रख भी नहीं रहे हैं। उसने एसएसपी से आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।


गौरक्षण के लिए दीया अधिकारी को ज्ञापन

हल्द्वानी! एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार साहू सदस्य रितिक साहू के नेतृत्व में संस्था के माध्यम से हल्द्वानी शहर की सड़कों में घूम-घूम कर शहर के चौराहों में जीवन यापन करने को मजबूर गायों के लिए तत्काल गौशाला बनाने के लिए संस्था पदाधिकारियों ने नगर-निगम नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया को ज्ञापन दिया!
इस दौरान एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार साहू, उपाध्यक्षष लोकेश कुमार साहू ने संयुक्त रूप से कहा की हल्द्वानी शहर में गौशाला ना होने के कारण से गायों को पिछले कई वर्षों से सड़कों में घूम-घूम कर शहर के चौराहों में अपना जीवन गुजर बसर करने के लिए मजबूर हो गई हैं! जिस कारण से शहर की यातायात व्यवस्था पूर्ण रूप से कभी कभी सुचारू नहीं हो पाती है! जिससे राहगीरों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है और यातायात बाधित होने से कई गाय वाहनों की चपेट में आ जाती हैं! जिससे गायों कि मौत का खतरा लगातार बना रहता है! इसके बावजूद भी नगर निगम की तरफ से आज तक गौशाला बनाने की कोई पहल नहीं की गई! जबकि वैज्ञानिक कहते हैं कि गाय के गोबर में विटामिन बी 12 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है! यह रेडियोधर्मिता को भी सोख लेता है आम मान्यता है कि गाय के गोबर के कंडे से धुआं करने पर कीटाणु मच्छर आदि कीटाणु भाग जाते हैं और दुर्गंध भी नष्ट हो जाती है! गौमूत्र और गोबर फसलों के लिए बहुत उपयोगी कीटनाशक सिद्ध हुऐं हैं! कीटनाशक के रूप में गोबर और गौमूत्र के इस्तेमाल के लिए अनुसंधान केंद्र भी खोले जा सकते हैं! क्योंकि इनमें रासायनिक उर्वरकों के दुष्प्रभावों के बिना खेती के हर उत्पादन बढ़ाने की अपार क्षमता है और गाय का गोबर इस्तेमाल करने से भूमि की उर्वरता बनी रहती है! वहीं दूसरी ओर पैदा की जा रही सब्जी फल या अनाज की फसल की गुणवत्ता भी बनी रहती है जुताई करते समय गिरने वाले गोबर और गौमूत्र से भूमि में स्वतः खाद डलती जाती है प्रकृति के 99% कीट प्रणाली के लिए लाभदायक हैं एक गाय के गोबर से 7 एकड़ भूमि को खाद और मूत्र से 100 एकड़ भूमि की फसल को कीटों से बचा सकता है! केवल 40 करोड़ गौवंश के गोबर व मूत्र से भारत में 84 लाख एकड़ भूमि को उपजाऊ बनाया जा सकता है और गौमूत्र व गोबर चर्म रोग सहित सैकड़ों रोगों में बचाने में महत्वपूर्ण उपयोग किया जाता है! इसके बावजूद दुर्भाग्य से शहरों में जिस तरह पॉलिथिन का उपयोग कर उसे फेंक दिया जाता है! जिसे खाकर गायों की असमय मौत हो रही है, इस दिशा में सभी को गंभीरता से विचार करना चाहिए! ताकि हमारी आस्था और अर्थव्यवस्था के प्रतीक गोवंश को बचाया जा सके क्योंकि गौ माता का मनुष्य के जीवन में बहुत महत्व है! गौ माता हमेशा से शहरों एवं ग्रामीण क्षेत्रों की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है! इसलिए सर्वगुण संपन्न गौ माता के लिए रहने एवं खाने पीने का स्थान गौशाला सुनिश्चित कराना बहुत जरूरी है और यह सरकार व नगर निगम की नैतिक जिम्मेदारी! 
इस दौरान मेयर को ज्ञापन देने में संस्था महिला अध्यक्ष नम्रता सिंह, कोषाध्यक्ष बलराम हालदार लक्ष्मी हालदार, पूनम सरकार, लक्ष्मी वार्ष्णेय, कोमल गुप्ता, गोविन्द मिस्त्री अभिषेक साहू, राकेश बैरागी, सुशील राय, सूरज कुम्हार आदि लोग उपस्थित है!


मैं यूपी का निदेशक हूं, इंडिया का नहीं

इटावा! प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने बुधवार को इटावा में कानपुर व आगरा मंडल के एसएसपी-एसपी के साथ समीक्षा बैठक करने के बाद प्रेसवार्ता की। लेकिन इस दौरान दुष्कर्म मामलों को लेकर मीडिया के सवालों पर डीजीपी ओपी सिंह नाराज हो उठे। बेरुखी भरे लहजे में डीजीपी ने कहा- मैं उत्तर प्रदेश का डीजीपी हूं, इंडिया का नहीं। हमारे यहां 28 फीसदी दुष्कर्म की घटनाओं में कमी आई है।


डीजीपी से पत्रकारों ने मिर्जापुर, मैनपुरी व अन्य जिलों में हाल ही में सामने आए दुष्कर्म मामलों के बारें में सवाल पूछा था। हालांकि, डीजीपी ने स्वीकार किया कि, मैनपुरी की घटना में प्रशासन से चूक हुई है। इसी के चलते मुख्यमंत्री के निर्देश पर डीएम प्रमोद कुमार उपाध्याय व एसएसपी अजय शंकर राय को वहां से हटाया गया है। कहा- मैनपुरी में जवाहर नवोदय की छात्रा की मौत प्रकरण की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। कानपुर जोन के आईजी मोहित अग्रवाल की अध्यक्षता में टीम जांच कर रही है। कहा- जल्द जांच पूरी हो जाएगी, लेकिन कब पूरी होगी, इसकी तय सीमा बताने से इंकार कर दिया। डीजीपी ने कहा- मैनपुरी मामले की जांच करने वाली एसआइटी को पूरी छूट दी गई है कि वो निष्पक्षता से जांच करके रिपोर्ट दे। दोषियों को सजा दिलाएंगे। आईजी आगरा पूरे मामले की समीक्षा कर चुके हैं। इसके बाद पत्रकारों ने पूछा कि, पीड़ित परिजनों की सुनवाई शुरू से नहीं हुई? इस सवाल को टालते हुए डीजीपी ने कहा- अब मैनपुरी मामले पर कोई सवाल न पूछिए और प्रेसवार्ता से चले गए। हल्ला बोल को यूपी, दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश के सभी जिलो में संवाददाताओं की आवश्यकता है। जो निशुल्क रूप से हमें सहयोग कर सके। संवाददाता इसके अलावा पुलिस, मीडिया, राजनीति से संबंधित कोई खबर प्रकाशित करवाना चाहते हैं! तो भी आप इस नंबर पर खबर भेज सकते हैं।


रानू मंडल ने अपनायी लता की जीवनशैली

नई दिल्ली! सोशल मीडिया, आज के वक्त में मशहूर होने का सबसे आसान और पॉपुलर जरिया बन गया है! दरअसल, वैसे तो हमने कई बार ऐसे वायरल वीडियो देखे हैं! लेकिन इसका सबसे बड़ा उदाहरण रानू मंडल है! पश्चिम बंगाल के रानाघाट स्टेशन पर लता मंगेशकर के 'एक प्यार का नगमा है!” गाने का उनका वीडियो काफी वायरल हुआ था और इसके बाद वह स्टार बन गईं!


रानू मंडल के वीडियो ने लाखों लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा था, जिसके बाद अब एक 2 साल की बच्ची का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है! इस वीडियो में यह बच्ची लता मंगेशकर के बेहद मशहूर गाने ”लग जा गले…” गाते हुए नजर आ रही है! इस बच्ची का नाम प्रज्ञा मेधा बताया जा रहा है! और वह इस गाने को बहुत ही मधुर आवाज में और काफी अच्छे सुरों में गाते हुए नजर आ रही हैं! आपको बता दें, यह गाना 1964 में रिलीज हुई फिल्म ”वो कौन थी” का है! इस बच्ची का यह वीडियो अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर किया जा रहा है! यहां तक कि सिंगर सितारा ने भी इस वीडियो को शेयर किया है! सोशल मीडिया पर लोग प्रज्ञा के इस गाने से काफी प्रभावित नजर आ रहे हैं! सोशल मीडिया पर यह वीडियो पिछले कुछ महीनों से शेयर हो रहा है!


कचरा प्रबंधन में पुलिस ने झोंकी ताकत

बिकाऊ की आड़ मे जल रहा था ई-कचरा। 
मुरादाबाद! तीन थानों की पुलिस ने छापेमारी करके चार को किया गिरफ्तार, 20 बोरा ई कचरा ज़ब्त किया। 
एसपी सिटी अमित कुमार आनंद के निदेशन मे थाना भोजपुर क्षेत्र मे ताजपुर माफ़ी गाँव मे तीन थानों की फ़ोर्स ने एक मकान पर छापेमारी की। इस मकान पर बिकाऊ है को बोड लगा हुआ था। मकान के अंदर ई-कचरा की चार भट्टी धधकती मिली। पुलिस टीम ने मौक़े से चार लोगों को गिरफ़्तार कर 20 बोरा ई कचरा भी बरामद किया है। 
एसपी सिटी अमित कुमार आनंद ने बताया थाना भोजपुर क्षेत्र में ताजपुर माफ़ी गाँव में एक घर में ई कचरा की भट्टी जलने की सूचना मिली। कटघर मुगलपुरा व भोजपुर थाने की टीम गठित की। इसके बाद पुलिस टीम ने संयुक्त छापेमारी की। संदिग्ध स्थल पर मकान बिकाऊ है लिखा बोड चस्पाँ मिला। 
आरोपितों की पहचान बबलू अहमद इमरान निवासी जामा मस्जिद गली नंबर दो वारसी नगर मुगलपुरा मुहम्मद सालिम हसन निवासी गुड़िया बाग़ नवाबपुरा थाना नागफनी व कार्तिक कश्यप निवासी मानपुर नारायणपुर हनुमान मंदिर के सामने मझोला के रूप में हुई। मकान सीज करते हुए पुलिस ने चारों आरोपितों को गिरफ़्तार कर लिया।


प्राथमिकता में नारी सुरक्षा एवं ड्रग्स फ्री हिमाचल

शिमला। एनएसयूआई की राज्य कार्यकारिणी की बैठक का आयोजन शिमला के राजीव भवन में किया गया। बैठक की अध्यक्षता प्रदेशाध्यक्ष छत्तर सिंह ठाकुर ने की। एनएसयूआई (NSUI) के प्रदेश संगठन महासचिव मनोज चौहान ने जानकारी दी कि जल्द ही प्रदेश के सभी जिलों में कॉलेजों व जिलों की कार्यकारिणियों के लिए ट्रेनिंग कैंप व वर्कशॉप का आयोजन किया जाएगा। इसके अतिरिक्त एनएसयूआई प्रदेश में स्कूल व कॉलेज स्तर पर नशे के खिलाफ 'ड्रग फ्री हिमाचल' व महिलाओं के प्रति देश में बढ़ रहे हिंसा व शोषण के खिलाफ 'नारी सुरक्षा' नामक दो विशेष कैंपेन प्रोग्राम भी लांच करने जा रही है।


इस बैठक में देशभर के एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने 10 दिसंबर को दिल्ली (Delhi) में होने वाली “छात्र आक्रोश रैली” को लेकर विशेष चर्चा की। ये आक्रोश रैली दिल्ली मंडी हाउस से लेकर संसद भवन तक राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन की अध्यक्षता में निकली जाएगी। स्कूल-कॉलेजों में बढ़ती फीस, निरंतर बढ़ती बेरोज़गारी, शिक्षा के निजीकरण व व्यापारीकरण के विरुद्ध देशभर के हजारों छात्र-छात्राएं संसद का घेराव करेंगे। प्रदेशाध्यक्ष छत्तर सिंह ने कहा कि हिमाचल प्रदेश से भी बड़ी संख्या में एनएसयूआई के कार्यकर्ता इस आक्रोश रैली में भाग लेने दिल्ली जाएंगे। इसके अतिरिक्त बैठक में अन्य छात्र संबंधी समस्याओं पर भी चर्चा की गई। बैठक के दौरान प्रदेशाध्यक्ष ने हमीरपुर के जिलाध्यक्ष टोनी ठाकुर को पिछले चार महीनों में छात्र हितों में किए गए सर्वश्रेष्ठ कार्यों के लिए सम्मानित भी किया।


'वित्त मंत्री' के बयान पर बिफरा 'विपक्ष'

नई दिल्ली। देश में आए दिन बढ़ रहे प्याज के दाम ने आम जनता को परेशान कर रखा है। प्याज की बढ़ती कीमतों की वजह से आम आदमी के किचन का बजट भी बिगड़ गया है। वहीं देश की केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस मसले पर संसद में सवाल उठाने के बाद कहा कि वह इतना लहुसन, प्याज नहीं खाती हैं! और ऐसे परिवार से आती हैं जहां प्याज-लहुसन का ज्यादा मतलब नहीं है। जिसके बाद से उनके इस बयान को लेकर विपक्ष द्वारा उनकी आलोचना कि जा रही है।


अब एक नई बात सामने आई है कि अगर आप बहुत ज़्यादा प्याज़ इकट्ठा खरीद लेते हैं! तो आपको आयकर नोटिस मिल सकता है। दरअसल कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने राज्य में प्याज़ का दाम 180/किलोग्राम पहुंचने पर करारा कटाक्ष करते हुए यह बात कही है। उन्होंने कहा है कि आज प्याज़ की कीमतें इतनी अधिक हैं कि अगर आप बहुत ज़्यादा प्याज़ इकट्ठा खरीद लेते हैं! तो आपको आयकर नोटिस मिल सकता है। वहीं कवि कुमार विश्वास ने निर्मला के प्याज वाले बयान पर कटाक्ष करते हुए गुरुवार को ट्वीट किया, 'मैं ऐसे परिवार से हूं जहां पेट्रोल नहीं पिया जाता इसलिए पेट्रोल के दाम बढ़ने से मुझे कोई परेशानी नहीं है!


अवैध नाथ खेल प्रतियोगिता का किया समापन

गोरखपुर। ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ जी महाराज अखिल भारतीय प्राइज मनी पुरुष कबड्डी प्रतियोगिता में फाइनल मुकाबला उत्तर प्रदेश व आर्मी रेट के बीच खेला गया! आर्मी रेड ने उत्तर प्रदेश को 26 के मुकाबले 43 अंक से हराया और महंत अवेद्यनाथ द्वितीय अखिल भारतीय प्राइज मनी प्रतियोगिता पर कब्जा किया! पुरस्कार वितरण मुख्य अतिथि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विजयी खिलाड़ियों को पुरस्कार वितरण किया।


इस मौके पर खेल राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार खेल युवा कल्याण पंचायती राज उपेंद्र तिवारी, खेल निदेशक आरपी सिंह, आनंद किशोर पांडे कोषाध्यक्ष भारतीय ओलंपिक संघ एवं महासचिव उत्तर प्रदेश ओलंपिक संघ राजेश सिंह उत्तर प्रदेश कबड्डी धीरज सिंह हरीश उत्तर प्रदेश उपाध्यक्ष हाकी संघ पुष्पदंत जैन, उत्तर प्रदेश महिला आयोग उपाध्यक्ष चौधरी पूर्व महापौर सत्या पांडय, विधायक बांसगांव विमलेश पासवान विधायक, नगर विधायक डॉ राधामोहन अग्रवाल ,गोरखपुर ग्रामीण विपिन सिंह विधायक, पिपराईच महेंद्र पाल सिंह विधायक कैम्पियरगंज, फतेह बहादुर सिंह विधायक चौरीचौरा, संगीता यादव विधायक सहजनवा, शीतल पांडेय क्षेत्रीय अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह, युवा कल्याण उपाध्यक्ष, विभ्राट चंद्र कौशिक, चंद्र विजय सिंह, भारतीय कुश्ती कोच दिनेश सिंह, उत्तर प्रदेश उपाध्यक्ष कुश्ती संघ अरुणेश शाही मंडलायुक्त जयंत, नालिर्कर एसएसपी डॉ सुनील गुप्ता क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी एके पांडेय सहित बड़ी संख्या में खेल प्रेमी व अधिकारीगण मौजूद रहे! कार्यक्रम का संचालन अर्चना सतीश ने किया।


किसानों की समस्याओं को लेकर निकाला जुलूस

शिवम शुक्ला 


चित्रकूट! जिला कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष की अगुवाई में कांग्रेसियों ने प्रदेश आवाहन पर तीन सूत्रीय मांगों के संबंध में मुख्यालय में प्रदर्शन कर राज्यपाल संबोधित ज्ञापन उप जिलाधिकारी को सौपा है। गुरुवार को कांग्रेस जिलाध्यक्ष कुशल सिंह पटेल की अगुवाई में दर्जनों कार्यकर्ताओं ने किसानों की समस्याओं को लेकर जुलूस निकाल प्रदर्शन किया। एसडीएम कार्यालय पहुंचकर राज्यपाल संबोधित तीन सूत्रीय ज्ञापन उप जिलाधिकारी को सौपा। ज्ञापन में कहा कि गन्ना किसानों की बकाया धनराशि तत्काल देकर समर्थन मूल्य बढ़ाया जाये। पराली जलाने वाले किसानों पर दर्ज हो रहे मुकदमें वापस लें। किसानों को जरिए नोटिस मुकदमा दर्ज करने के पूर्व सूचित करें। पराली की सरकारी खरीद हो। अन्ना पशुओं के लिए समुचित प्रबंध कराकर सक्षम अधिकारी निरीक्षण करें। जिससे किसानों की फसलें बच सके। इस मौके पर माताबदल, अवधेश करवरिया, नीरू गुप्ता, अजय सिंह, पुष्पेन्द्र सिंह, धर्मेन्द्र सिंह, मुरारीलाल आदि कांग्रेसी मौजूद रहे।


भाजपा सरकार अपने ही मुद्दों पर हुई असफल

प्रयागराज! नेता कांग्रेस विधानमंडल दल आराधना मिश्रा का बयान,उन्नाव में गैंगरेप पीड़िता को जिंदा जलाए जाने पर योगी सरकार पर बोला हमला,कहा उन्नाव पार्ट टू के लिए योगी सरकार जिम्मेदार,कानून व्यवस्था और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नाम पर आई थी बीजेपी सरकार, हर मोर्चे पर विफल भाजपा सरकार में अपराधियों को मिल रहा है संरक्षण, यूपी की कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त,


भाजपा के डीएनए में ही है महिलाओं का विरोध,
भाजपा सरकार में घोटाले भी लगातार आ रहे सामने,
प्याज की बढ़ी कीमतों पर केंद्र की नीतियों को ठहराया जिम्मेदार, जमाखोरों पर कार्रवाई की मांग की,
ऐसी जनविरोधी सरकार को सत्ता में बने रहने का नहीं है कोई हक,प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने की मांग की,
सीएम योगी आदित्यनाथ का भी मांगा इस्तीफा।
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


अनियंत्रित ईट लधे डंपर ने ली किशोरी की जान

अनियंत्रित ईंट लदे डम्फर की टक्कर से किशोरी की मौत


प्रयागराज! इलाकाई थाना क्षेत्र के पौसिया चौहान गांव के सामने अनियंत्रित ट्रक की टक्कर से चौदह वर्षीय किशोरी की दर्दनाक मौत हो गई। दुर्घटना के बाद चालक ट्रक सहित भागने में सफल रहा।
प्राप्त जानकारी के अनुसार पौसिया दूबे निवासी अनिल पटेल की चौदह वर्षीय बेटी आरती पटेल दोपहर में साइकिल से मेजारोड मंडी सब्जी लेने गई थी, जहां से वह सब्जी लेकर घर वापस जा रही थी। पौसिया चौहान (आरा मशीन) पटेल मार्केट के समीप पहुंची थी कि वह ट्रक की चपेट में आ गई, जिससे उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। दुर्घटना के बाद चालक ट्रक सहित भागने में सफल रहा। आक्रोशित ग्रामीणों ने मेजा-मेजारोड मार्ग पर चक्काजाम करने का प्रयास किया। सूचना पर इलाकाई पुलिस चौकी प्रभारी अखिलेश सिंह ने पहुंच शान्ति कायम की। फिलहाल ग्रामीणों ने दुर्घटना कर भाग रही ट्रक का नंबर नोट कर लिया है।
रिपोर्ट-बृजेश केशरवानी


ढाई साल बाद भी सरकार वायदों में फेल

उत्तर प्रदेश सरकार के ढाई साल बीतने पर भी सड़कों को गडढ़ा मुक्त नहीं किया गया


प्रयागराज! समाजवादी पार्टी के निर्वतमान महानगर अध्यक्ष सै०इफ्तेखार हुसैन ने योगी सरकार के ढाई वर्ष बीतने पर भी शहर की सड़कों की दूरदशा पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा की योगी सरकार सभी मोर्चे पर विफल साबित हो रही है।सड़को को गडढा मुक्त करने की बात कही गई थी, लेकिन घूम फिर के सारा फोकस सिविल लाईन्स और दूसरे पॉश ईलाक़ों जो पहले से ही ठीक हैं! उनहें दूबारा बनाने की कवायद की जा रही है जबकि पुराने इलाक़ों मे शुमार अतरसुईया,बहादुरगंज,लोकनाथ,कोठापार्चा,मुठ्ठीगंज,दरियाबाद,करैली,रसूलपुर,अटाला,रानी मण्डी,बैदन टोला,समदाबाद,बख्शी बाज़ार,नूरउल्लाह रोड,रौशन बाग़,दायरा शाह अजमल,नखास कोहना,सब्ज़ी मण्डी,बरनतला,पत्थर गली,शाहगंज,गाड़ीवान टोला,अकबरपुर,कटरा आदि क्षेत्रों की सड़के अभी भी क्षतिग्रस्त हैं।गलियों की इतनी बुरी हालत है के राह चलना मुशकिल है।लेकिन सरकारी धन की बन्दर बाँट के चलते कोई इस ओर झाँकने तक नहीं आता। वहीं सिविल लाईन्स जो पहले से चमक दमक रहा है उसे बार बार बना कर धन की बरबादी और लूट मचाई जा रही है।पुराने शहर के लोग मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं।निर्वतमान नगर महासचिव योगेश चन्द्र यादव ने योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा की इस सरकार में जहाँ अपराधियों के हौसले बुलन्द हैं वहीं आम जन भय और आतंक के साए में जी रहा है।आए दिन बहु बेटियों की इज़्ज़त तार तार हो रही है ।उत्तर प्रदेश हत्या प्रदेश हो गया है आए दिन अखबार हत्या और बलात्कार व लूट की घटना को मोटी मोटी सुर्खियों में बयान कर रहे हैं लेकिन सरकार ने सभी तरफ से आँख मूंद ली है।महंगाई, बिजली,पेय जल,ग्रहकर और दूसरी मूलभूत चीज़ो के बढ़ते दाम और बेरोज़गारी से जहाँ नौजवान गलत राह पर चल पड़े हैं वहीं महिलाओं का बजट महंगाई के कारण बिगड़ गया है।
महानगर मीडिया प्रभारी सै०मो०अस्करी ने ढाई वर्ष की योगी सरकार पर पुराने इलाक़ों के लोगों के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए कहा की जनता की अपेक्षा के विपरीत कार्य हो रहा है।सम्बन्धित विभाग और डेवलप्मेन्ट कमेटी के लोग प्रयागराज को सुन्दर बनाने के चक्कर में पुराने इलाकों को भूल गए हैं या फिर बनी बनाई सड़कों को दोबारा बनाने में बड़ा खेल करने के इरादे से कार्य को सम्पादित कर धन उगाही मे शामिल हैं।सड़को व गलियों की दूर्दशा के साथ साफ सफाई पर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है जिसके कारण जगहाँ जगहाँ कूड़ा करकट के साथ नालियों व नाले के पानी के बीच से लोगों को हो कर गुज़रना पड़ रहा है।सिविल लाईन्स स्थित कैम्प कार्यालय पर समाजवादी पार्टी महानगर के पदाधिकारीयों ने बैठक कर योगी सरकार पर जमकर हमला बोला।बैठक में मो०इसराइल,मशहद अली खाँ,महेन्द्र निषाद,इसरार अन्जुम,महावीर यादव,योगेश चन्द्र यादव,सै०मो०अस्करी, बृजेश केसरवानी, रवि प्रधान,सबीहा मोहानी,मन्जू यादव,नमिता दास,शबीह हसन,मो०ज़ैद,किताब अली,औन ज़ैदी,आबिद  खान,यथांश केसरवानी,रुपनाथ यादव आदि उपस्थित थे।
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


सहायक संवादाता-इफ्तेखार हुसैन


अतिक्रमण के विरुद्ध प्रशासन की सख्त कार्रवाई

प्रयागराज! अतिक्रमण अभियान जान सेन गंज से पुराना बजाजा पट्टी रानी मंडी बहादुरगंज कोठा परचा जीवन ज्योति होते हुए चंद्रलोक चौराहे तक चलाया गया!
ट्रैफिक पुलिस प्रयागराज, सीओ श्री रत्नेश सिंह के साथ प्रभारी कोतवाली, अतरसुइया और थाना प्रभारी मुट्ठीगंज के साथ नगर निगम का संयुक्त अभियान चलाया गया!
जो रूट वन- वे किया गया है उस रूट का अतिक्रमण हटाया गया! ट्रैफिक व्यवस्था को बेहतर बनाने हेतु सड़कों पर अवैध अतिक्रमण हटवाते हुए, अनियमित पार्क वाहनों पर ट्रैफिक पुलिस द्वारा कार्रवाई की गई!
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


गुजरात सरकार ने एलिमेंट का नियम हटाया

गांधीनगर! गुजरात सरकार ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए शहरी इलाकों में दोपहिया वाहनचालकों के लिए हेलमेट की अनिवार्यता का नियम को खत्म कर दिया। कैबिनेट की बैठक में महानगर पालिका और नगर पालिका के सीमावर्ती इलाकों में हेलमेट की अनिवार्यता खत्म कर दी। हालांकि, नेशनल-स्टेट हाईवे और पंचायत के रास्तों पर हेलमेट पहनना अनिवार्य है। नया नियम बुधवार से लागू हो गया है। गुजरात पहला राज्य था जहां हेलमेट न पहनने पर जुर्माना घटाकर 500 रुपए कर दिया गया था। अब लोगों की परेशानी का हवाला देकर शहरी क्षेत्रों में अनिवार्यता ही खत्म कर दी गई है। हेलमेट से प्रतिबंध हटाने का निर्णय भले सरकार का है, पर सिर तो अपना है। इसलिए संभालने में भले थोड़ी बहुत मुश्किल हो, पर भूले बगैर इसे पहनना चाहिए। कारण गायब हेलमेट फिर से मिल सकता है, पर जान वापस नहीं आ सकती है। याद रखें कि हेलमेट से प्रतिबंध हटाते समय सरकार ने भी माना है कि सड़क दुर्घटना में हेलमेट सिर की सुरक्षा के लिए बहुत जरूरी है।


बस-ट्रक की टक्कर, 9 लोगों की मौत

रीवा! मध्य प्रदेश के रीवा में बस और ट्रक की टक्कर में 9 यात्रियों की मौत हो गई। वहीं, 23 घायल हैं। पुलिस के मुताबिक, हादसा गुढ़ रोड के नजदीक हुआ। बस ने रास्ते में खड़े ट्रक को पीछे से टक्कर मारी।


रीवा के एसपी अबिद खान ने बताया कि बस सीधी से रीवा जा रही थी। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है!


सलाह मांग लेते तो रुक जाते दंगे

नई दिल्ली! पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 1984 सिख दंगों को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि अगर तत्कालीन गृह मंत्री पीवी नरसिम्हा राव 1984 में इंद्र कुमार गुजराल की सलाह मान लेते, तो दंगे नहीं होते। मनमोहन सिंह ने यह बात गुजराल की 100वीं जयंती पर दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में कही।


मनमोहन ने कहा, ''जब 1984 के दंगे हुए थे, तब गुजराल गृह मंत्री नरसिम्हा राव के पास गए थे। गुजराल ने उनसे कहा कि स्थिति बहुत नाजुक है। ऐसे में सरकार को जल्द से जल्द सेना को बुला लेना चाहिए, यही ठीक होगा। यदि गुजराल की वह सलाह मान ली गई होती तो नरसंहार को रोका जा सकता था।'' 1980 के दशक में गुजराल कांग्रेस छोड़कर जनता दल में चले गए थे। 1984 के दंगों के दौरान उन्होंने नरसिम्हा राव को मित्रवत सलाह दी थी।


गुजराल अप्रैल 1997 से मार्च 1998 तक देश के 12वें प्रधानमंत्री रहे थे। वे इंदिरा गांधी और एचडी देवेगौड़ा के बाद राज्यसभा से प्रधानमंत्री बनने वाले तीसरे व्यक्ति थे। वे इंदिरा सरकार में 1975 में आपातकाल के समय सूचना और प्रसारण मंत्री भी रहे थे।


महासागर में नाव पलटने से 58 लोगों की मौत

अटलांटिक महासागर में शरणार्थियों से भरी एक नाव पलटने से 58 लोगों की  मौत हो गई है। शरणार्थी नाव में सवार होकर यूरोप में शरण लेने के लिए निकले थे। सभी शरणार्थी  पश्चिमी अफ्रीकी देश गाम्बिया के रहने वाले थे।


न्यूज एजेंसी एपी ने यूएन माइग्रेशन एजेंसी के हवाले से बताया कि खबर है कि हादसे का शिकार होने वाली नाव में दर्जनों की संख्या में शरणार्थी थे। अनुमान लगाया जा रहा है कि नाव में लगभग 150 शरणार्थी सवार थे। इनमें से 83 लोगों ने नाव डूबने के बाद तैरकर किसी तरह अपनी जान बचा ली। हादसे की सूचना मिलते ही अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों द्वारा राहत व बचाव कार्य शुरू कर दिया गया। बताया जा रहा है कि अब तक 58 शरणार्थियों के शव समुद्र से बरामद किए जा चुके हैं। आशंका व्यक्त की जा रही है कि मृतकों की संख्या इससे ज्यादा हो सकती है। यूएन माइग्रेशन एजेंसी ने बुधवार को हादसे की रिपोर्ट जारी की है।


सर्वाधिक छक्के लगाने वाले 5 बल्लेबाज

नई दिल्ली। एक तो टेस्ट क्रिकेट, उसमें भी छक्कों की बात जिसपर वीरेंद्र सहवाग का क्रम पांचवें नंबर पर, है ना थोड़े हैरत की बात! इसमें कोई शक नहीं कि टेस्ट क्रिकेट के जायके में तड़का लगाने का जो पहल वीरेंद्र सहवाग और उनके समय के कुछ खिलाड़ियों ने किया था उसका असर अब इस प्रारूप में दिखने लगा है। जो थोड़ी बहुत कसर बची हुई थी उसे क्रिकेट के विभिन्न फॉर्मेट और इसे रोचक बनाने के लिए किए गए प्रयोगों ने पूरा कर दिया है। टेस्ट क्रिकेट अब पहले के अमूमन अपने 'ड्रॉ' वाले रिजल्ट से आगे बढ़ चुका है। क्रिकेट के नए स्वरूप में हर टीम रिजल्ट के लिए खेलने लगी है। वर्तमान में रोहित शर्मा, विराट कोहली, डेविड वार्नर, आरोन फिंच, बेन स्टोक्स आदि जैसे बल्लेबाज हैं जो टेस्ट में भी आक्रामक होकर खेलते हैं। हो सकता है आगे आने वाले दिनों में इन 5 बल्लेबाजों के क्रम से ऊपर वर्तमान का कोई खिलाड़ी निकल कर क्रिकेट के इस प्रारूप में छक्कों का बादशाह बन जाए। वैसे भी क्रिकेट तो रिकॉर्ड बनने और उसके टूटने का गवाह है ही। खैर फिलहाल जो 5 खिलाड़ी छक्कों के मामले में फिलहाल आगे हैं, वो ये हैं।


न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान और बल्लेबाज ब्रैंडन मैकुलम ना केवल एकदिवसीय मैच और टी-20 प्रारूप में विस्फोटक रहे हैं बल्कि टेस्ट क्रिकेट में भी उन्होंने अपने खेलने का तरीका नहीं बदला था और वह इसमें सफल भी रहे। मैकुलम न्यूजीलैंड क्रिकेट में अबतक के सबसे सफल बल्लेबाज और कप्तान हैं। टेस्ट क्रिकेट में आज भी सबसे तेज शतक लगाने का रिकॉर्ड मैकुलम के ही नाम है जिसे उन्होंने अपने अंतिम टेस्ट मैच में मात्र 54 गेंदों में पूरा किया था। लंबे समय से खेलते हुए किसी खिलाड़ी का अपने अंतिम मैच में ऐसा प्रदर्शन यह बताने के लिए काफी है कि वह किस स्तर का खिलाड़ी रहा होगा। उनके खेलने के इसी विस्फोटक तरीके से टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा छक्के मारने का रिकॉर्ड अभी तक उनके नाम है। मैकुलम ने अपने करियर में खेले गए 101 टेस्ट मैचों की 176 पारियों में 107 छक्के मारे हैं।


चीजों को फ्रिज में स्टोर करने का रखे ध्यान

कितना बुरा होता है जब आप अपने लिए कुछ बनाने चलें और फ्रिज खोलकर देखें तो इनग्रेडिएंट्स खराब मिले! आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि हर चीज फ्रिज में रखना जरूरी नहीं है। कुछ फूड आइटम्स को खास तरह से स्टोर करने की जरूरत होती है। यहां है कुछ ग्रॉसरी आइटम्स की लिस्ट और इनको स्टोर करने का तरीका।
मुलायम पत्ती वाले हर्ब्स:किसी भी खाने में आप सिर्फ महक के लिए कुछ पत्तियां डालते हैं। बाकी को अगर ठीक से स्टोर न किया जाए तो ये मुरझा सकती हैं। ऐसी हर्ब्स को बुके की तरह फ्रेश रखा जा सकता है। इन पत्तियों के डंठलों को काटकर किसी जार में पानी भरकर इसमें डाल लें।
ब्रेड:अगर आपको लगता है कि ब्रेड को फ्रिज में रखने से ये लंबे वक्त तक चल सकती है तो आप गलत हैं। ऐसा करने से आपकी ब्रेड ठंडक से जल्दी ड्राई हो जाएगी। इसको कमरे के तापमान पर रखें और एक-दो दिन में ही खत्म कर लें।
पत्ता गोभी:पहली बात तो स्टोर से कभी भी कटा पत्ता गोभी न लें। साबित गोभी लाने के बाद अगर आपने इसे काटा है तो इसके कटे हिस्से को ऐसा ही न छोड़ें। इससे तुरंत ऑक्सिडेशन हो सकता है। इसके खुले हिस्से पर आप नींबू रगड़ दें। इससे यह लंबे वक्त तक ताजी रहेगी।
दूध:अगर आप ऐसा सोचते हैं कि फ्रिज में दूध रखने से यह खराब नहीं होगा तो आप गलत हैं। अगर आप दूध फ्रिज के डोर में स्टोर करते हैं तो गलत कर रहे हैं। जो भी चीजें फ्रिज के डोर में स्टोर की जाती हैं! उनमें गर्म हवा ज्यादा लगती है। इससे दूध जल्दी खराब हो सकता है।
नींबू:संतरे जैसे सिट्रस फ्रूट को आप फ्रिज में स्टोर कर सकते हैं लेकिन जब बात आती है! नींबू की तो इनहें फ्रिज के बजाय प्लास्टिक बैग में स्टोर करें ये लंबे वक्त तक चलेंगे।
फ्रूट सलाद:फ्रूट सलाद को अगर ऐसे ही रख दिया जाए तो कुछ घंटों में इसका स्वाद बिगड़ जाता है। अगर इसमें नींबू की कुछ बूंदें डाल दी जाएं तो यह लंबे वक्त तक सही रहेगी। अंगूर को फ्रिज में स्टोर कर रहे हैं तो इसे फ्रिज में बैक साइड रखें जहां टेंपरेचर कम होता है।


डिओडरेंट का उपयोग हानिकारक

ठंड का मौसम आया नहीं कि बहुत से लोग पानी से दूरी बना लेते हैं, और सबसे पहले नहाना बंद कर देते हैं। अब अगर आप 1-2 दिन बिना नहाएं रहेंगे तो शरीर से बदबू आना तो लाजिमी है! लेकिन इसका सबसे कारगर उपाय है डियोड्रेंट। बहुत से ऐसे लोग हैं जो सर्दी के मौसम में नहाने की बजाए खूब सारा डियोड्रेंट शरीर पर लगाकर काम चला लेते हैं। लेकिन बहुत ज्यादा डियोड्रेंट यूज करना भी आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। कैसे, यहां जानें…
रेडनेस, इरिटेशन और खुजली की समस्या
साइंटिफिक स्टडीज में यह बात साबित हो चुकी है कि डियोड्रेंट और पसीने की बदबू रोकने वाले ऐंटीपर्सपिरेंट्स में मौजूद इन्ग्रीडिएंट्स हमारे शरीर और स्किन को नुकसान पहुंचाते हैं। डियो में मौजूद ऐल्कॉहॉल की वजह से स्किन पर रेडनेस और इरिटेशन होने लगती है जिससे खुजली और पिग्मेंटेशन की समस्या भी हो सकती है।
पसीने की ग्रंथी हो सकती है ब्लॉक
डियोड्रेंट और ऐंटीपर्सपिरेंट्स में मौजूद ऐल्युमिनियम कंपाउंड स्वेट ग्लैन्ड्स यानी पसीने की ग्रंथी को ब्लॉक कर देते हैं जिस वजह से पसीना शरीर से बाहर नहीं निकल पाता और ऐलर्जी के साथ-साथ डर्मेटाइटिस होने का खतरा रहता है। पसीने की ग्रंथी में रुकावट आने से शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स और हानिकारक तत्व बाहर नहीं निकल पाते और यह भी शरीर के लिए अच्छा नहीं है।
ब्रेस्ट कैंसर का खतरा
डर्मेटॉलजिस्ट डॉ सुनीता मोरे की मानें तो डियोड्रेंट में मौजूद ऐल्युमिनियम और पैराबीन्स जैसे इन्ग्रीडिएंट ब्रेस्ट टीशू को नुकसान पहुंचा सकते हैं जिससे ब्रेस्ट कैंसर का खतरा बढ़ जाता है और अगर किसी के परिवार में ब्रेस्ट कैंसर की हिस्ट्री है तो ऐसे व्यक्ति को डियो या ऐंटीपर्सपिरेंट्स यूज नहीं करना चाहिए। खासकर वैसा डियो या ऐंटीपर्सपिरेंट जिसमें ऐल्युमिनियम हो।
स्प्रे की जगह डियो स्टिक यूज करें
डर्मेटॉलजिस्ट श्रेयस कामथ कहते हैं, डियोड्रेंट स्टिक, स्प्रे की तुलना में बेहतर होता है। लंबे समय तक सुगंध बरकरार रहे इसके लिए डियोड्रेंट स्प्रे में ज्यादा केमिकल मिलाया जाता है और इसलिए आपकी स्किन पर इन स्प्रेज का ज्यादा गहरा नुकसान देखने को मिलता है जबकी डियो स्टिक के साथ ऐसा नहीं होता। डियोड्रेंट स्टिक को माइल्ड केमिकल के साथ तैयार किया जाता है और इसलिए वे स्किन को उतना नुकसान नहीं पहुंचाते।
डियो की जगह ये चीजें करें यूज
1.पसीना नहीं बैक्टीरिया से बदबू आती है इसलिए बेन्जोयल पेरॉक्साइड युक्त ऐंटीबैक्टीरियल बॉडी वॉश का इस्तेमाल करें।2. स्किन के पीएच लेवल को बैलेंस कर पसीने की बदबू और बैक्टीरिया से लडऩे में मदद कर सकता है ऐपल साइडर विनिगर।


नई जोड़ी बॉलीवुड मे मचाएगी धमाल

मुंबई! रवि किशन की बेटी रीवा और पद्मिनी कोल्हापुरे के बेटे प्रियांक शर्मा की फिल्म सब कुशल मंगल का ट्रेलर लॉन्च हुआ। इस खास मौके पर फिल्म की टीम के अलावा रवि किशन अपनी पत्नी के साथ, पद्मिनी भतीजे सिद्धांत कपूर और बहन तेजस्विनी के साथ मौजूद रहे। बेहद ही भव्य और अनूठे अंदाज में मुंबई में फिल्म का ट्रेलर लॉन्च किया गया।
ट्रेलर लॉन्च के मौके पर पहली बार मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए प्रियांक ने कहा, मुझे बचपन से ही नाटकों और कला के प्रति आकर्षण रहा है, मैंने जब स्क्रिप्ट सुनी तो मुझे इसे फिल्म में काम करने की तलब जाग उठी। मुझे परिवार के ( शक्ति कपूर, श्रद्धा कपूर, सिद्धांत कपूर, पद्मिनी कोल्हापुरे, तेजस्विनी कोल्हापुरे ) सभी लोगों ने एक ही सलाह दी कि कभी भी बनावटी मत रहना, जैसे हो नैचरल रहना। कोई भी काम खुश होकर और इंजॉय करके करना, मैं वही करता हूं। मैं जानता हूं ऐक्टिंग के मामले में लोग मुझे मेरी मां और परिवार के साथ तुलना करेंगे, अगर मैंने अपनी मां की ऐक्टिंग की तुलना में आधी ऐक्टिंग भी कर ली तो सफल हो जाऊंगा। 
रवि किशन की बेटी रीवा ने कहा, मैंने फिल्मों में आने की कोई प्लानिंग नहीं की थी, लेकिन जब मैंने इस प्रफेशन में उतरने की ठानी, तब मेरे पिता ने मुझसे कहा कि जो कुछ भी सही लगे, वह करना। पापा ( रवि किशन ) हमेशा ही मुझे बढिय़ा तरीके से गाइड करते रहे हैं। मेरे माता-पिता की तरफ से कभी भी कोई दबाव नहीं था।
अपने माता-पिता से मिली अब तक की बेहतरीन सलाह और अभिभावकों के इंडस्ट्री से रिश्ते होने के चलते किसी तरह के दबाव महसूस करने के सवाल पर प्रियांक ने कहा, आपका स्वाभाविक व स्पॉन्टेनियस होना जरूरी है और चीजों को लेकर ज्यादा हिसाब-किताब करने की जरूरत नहीं है। मेरे माता-पिता ने मुझे कहा था कि अगर किसी चीज को करने में आपको मजा आ रहा है, तो जरूर करो। अगर मैं दबाव के बारे में सोचने लग जाऊं, तो मैं काम ही नहीं कर पाऊंगा। 
मौके पर मौजूद अक्षय खन्ना ने कहा, मैने बहुत दिनों बाद कॉमिडी फिल्म की है, इस कहानी के प्रति इसलिए आकर्षित हुआ क्योंकि यह एक बेहद बढिय़ा किस्म की कहानी है। यह एक साफ-सुथरी और मजेदार फिल्म है, जिसका लुत्फ दर्शक अपने दादा-दादी और नाना-नानी के साथ उठा सकते हैं। फिल्म सब कुशल मंगल यकीनन दर्शकों को एक अलग तरह के रोमांचक और दिलचस्प सफर पर ले जाएगी।


तापसी दिखेगी 'मिताली' के रूप में

मुंबई! बॉलिवुड में इस समय बायॉपिक बनने का दौर चल रहा है। अब डायरेक्टर राहुल ढोलकिया भारतीय महिला क्रिकेट टीम की पूर्व कप्तान मिताली राज की कहानी को बड़े पर्दे पर लाने की तैयारी कर रहे हैं। शाबाश मिठू नामक इस बायॉपिक में ऐक्ट्रेस तापसी पन्नू लीड रोल में नजर आएंगी। 


तापसी पन्नू इस बारे में कहा कि जहां तक महिलाओं के क्रिकेट की बात है! तो भारत की सबसे सफल कप्तान के किरदार को निभाना वाकई में सम्माननीय है। यद्यपि अभी से मैंने इस किरदार को निभाने को लेकर दबाव महसूस करना शुरू कर दिया है, फिलहाल मुझे नहीं लगता कि मैं इसे किसी और के साथ बांटना चाहती हूं।
इस बायॉपिक के बारे में मिताली राज ने कहा कि मैंने हमेशा क्रिकेट में ही नहीं, बल्कि सभी क्षेत्रों में महिलाओं के लिए समान अवसर के लिए अपनी राय जाहिर की है। न केवल मेरी कहानी को पर्दे पर जीवंत करने के लिए, बल्कि जो महिलाएं सपने देखने का हिम्मत रखती हैं, उन तक पहुंचने के लिए मुझे एक बड़ा प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराने के मद्देनजर मैं अजीत अंधारे और वायकॉम 18 स्टूडियोज का शुक्रिया अदा करना चाहती हूं। खिलाडिय़ों की बात करें तो आने वाले साल में कपिल देव और साइना नेहवाल की बायॉपिक आने को तैयार है। कपिल देव की बायॉपिक में रणवीर सिंह और साइना नेहवाल की बायॉपिक में परिणीति चोपड़ा नजर आएंगी।


गोवंश के लिए 'योगी' अति संवेदनशील

लखनऊ! आवारा व निराश्रित पशुओं की समस्या से निजात पाने के लिए अब सूबे की योगी सरकार गो-सफारी खोलने पर विचार कर रही है! इसकी शुरुआत बाराबंकी से होगी! अगर सब कुछ ठीक रहा तो प्रदेश के अन्य जिलों में भी इसकी शुरुआत होगी! दरअसल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में निराश्रित गोवंश के संबंध में हुई बैठक में पशुधन एवं दुग्ध विकास मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने गो-सफारी बनाने का प्रस्ताव रखा!


मुख्यमंत्री ने दिलचस्पी दिखाई मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी के इस प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री ने दिलचस्पी दिखाई है! साथ ही इस पर विस्तृत कार्ययोजना के साथ रिपोर्ट तलब की है! मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने कहा कि जिन जिलों में पशुपालन विभाग के पास पर्याप्त भूमि है वहां गो-सफारी बनाया जा सकता है! इसमें 15-20 हजार गाय प्राकृतिक वातावरण में रह सकती हैं! उन्होंने कहा कि बाराबंकी जिले में कमियार घाट पर 25 सौ एकड़ भूमि उपलब्ध है! पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इस पर गो-सफारी बनाई जा सकती है! उन्होंने बताया कि बाराबंकी के अलावा सुने के कई जिलों में पशुपालन विभाग के पास जमीन है! मसलन शाहजहांपुर में 392 एकड़ और महाराजगंज में लगभग 800 एकड़ जमीन उपलब्ध है! फिलहाल ने उन्होंने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि अन्य जिलों में कितनी जमीन उपलब्ध है! उसकी रिपोर्ट तैयार की जाए! पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने पर भी विचार चौधरी ने बताया कि इन गो-सफारी को भविष्य में पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने पर भी विचार किया जा रहा है! उन्होंने बताया कि गो-सफारी में गायों को घूमने टहलने के लिए पर्याप्त स्थान मिलेगा। गो-सफारी में गोवंश के गोबर, गो-मूत्र आदि का सदुपयोग किया जा सकता है! फिलहाल योजना को क्रियान्वित करने के लिए विस्तृत कार्य योजना तैयार कराई जा रही है!


भारतीय संसद में सस्ता खाना नहीं मिलेगा

नई दिल्ली। संसद में सांसदों को अब सास्ता खाना नहीं मिलेगा। लोकसभा स्पीकर ने सर्वदलीय बैठक में संसद में सांसदों को मिलने वाली फूड सब्सिडी  समाप्त करना का फैसला लिया है। इसके बाद अब संसद की कैंटिन मे बाजार भाव के अनुसार सभी सांसदों को खाने पीने की वास्तुएं मिलगी। संसद में मिलने वाले खाने से सब्सिडी समाप्त करने से सरकार के एक साल में कुल 1200 हजार करोड रूपए की बचत होगी। संसद की कमेटी ने यह प्रस्ताव रखा था कि संसद में सांसदों को मिलने वाली फूड सब्सिडी समाप्त की जाएग। जिस पर लोकसभा स्पीकर ने सभी दलों के नेताओं की बैठकर बुलाकर चर्चा की और सभी दलों ने इस प्रस्ताव पर सहमति दी। जिसके बाद अब संसद में मिलने वाली फूड सब्सिडी  समाप्त कर दी गई। इससे अब संसद की कैंटिन में सांसद,अधिकारी,कर्मचारियों को बजार रेट पर ही खाना मिलेगा। कैंटिन मंहगाई बढने पर समय समय पर रेट बढाएंगी। सांसदों अब तक मात्र 32 रूपए में खाने की थाली मिलती थी।


'जली' हुई रेप पीड़िता, किलोमीटर पैदल चली

उन्नाव। बिहार थाना क्षेत्र के हिंदूनगर गांव में दुष्कर्म पीड़िता को जिंदा जलाने की कोशिश की घटना में नया खुलासा हुआ है। 90 प्रतिशित जल चुकी पीड़िता करीब एक किलोमीटर तक पैदल चली और मदद की गुहार लगाई। बताया जा रहा है कि घर के बाहर काम कर रहे व्यक्ति से पीड़िता ने मदद की गुहार लगाई थी! गंभीर रूप से जल चुकी महिला ने ग्रामीण के फोन से खुद 112 पर कॉल किया और पुलिस को आपबीती बताई. जिसके बाद पीआरवी और एम्बुलेंस मौके पर पहुंची। 3 साल की पीड़िता ने इसी साल मार्च में दो लोगों के खिलाफ रेप का मामला दर्ज करवाया था! जिन तीन लोगों को पहले पकड़ा गया था, उनमें एक वह भी शामिल है, जिसके खिलाफ पीड़िता ने रेप का मामला दर्ज करवाया था! पुलिस के मुताबिक वह फरार था! उन्नाव में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी विक्रम वीर ने बताया, 'हमें सुबह सूचना मिली थी! उसने आरोपियों के नाम बता दिए हैं! इस मामले में आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस की टीम बनाई गई है! तीन को पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया है! हम बाकी के दो लोगों को तलाश कर रहे हैं। पुलिस का कहना है कि पीड़िता को जलाने के मामले में हरिशंकर त्रिवेदी, रामकिशोर त्रिवेदी, उमेश बाजपेयी व रेप के आरोपित शिवम द्विवेदी और शुभम द्विवेदी को गिरफ्तार कर लिया गया है! दुष्कर्म पीड़िता को जलाने के मामले में पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करचे हुए चार आरोपियों को पकड़ लिया था! वहीं, फरार चल रहे मुख्य आरोपी शिवम द्विवेदी ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया है! मामले के सारे आरोपी फिलहाल पुलिस की गिरफ्त में हैं! वहीं, पीड़िता का कहना है कि आरोपी पक्ष उसपर मुकदमा वापस लेने का दबाव बना रहा था! इसी के चलते आरोपियों ने जान से मारने की कोशिश की।


गोलाबारी में बाल-बाल बचे,वायुसेना प्रमुख

पर्ल हार्बर! अमेरिकी नौसेना और वायु सेना के संयुक्त बेस पर्ल हार्बर हिकम में गुरुवार सुबह अचानक शुरू हुई गोलीबारी के दौरान भारतीय वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया बाल-बाल बचे। इस घटना के समय भारतीय वायुसेना प्रमुख अपनी टीम के साथ इस बेस पर ही मौजूद थे। बताया जा रहा है कि शिपयार्ड पर तैनात एक गनमैन ने अचानक ही गोलीबारी शुरू कर दी। इस घटना में कम से कम तीन लोग घायल हुए हैं, वहीं दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। गोलीबारी करने वाले गनमैन ने खुद को भी गोली मार ली। घटना के बाद पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी गई है।


भारतीय वायु सेना ने कहा कि एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया सुरक्षित हैं। वायुसेना प्रमुख भदौरिया हिंद प्रशांत क्षेत्र में बदलते सुरक्षा परिदृश्य पर बातचीत के लिए विभिन्न वायुसेना बलों के प्रमुखों के सम्मेलन में भाग लेने के लिए इस समय हवाई स्थित अमेरिकी अड्डे पर हैं।भारतीय वायुसेना के प्रवक्ता ने कहा कि वायुसेना प्रमुख और उनका दल सुरक्षित है। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि वायुसेना प्रमुख पर्ल हार्बर में अमेरिकी वायुसेना अड्डे पर ठहरे हुए हैं और गोलीबारी नौसैन्य अड्डे पर हुई। अधिकारी ने बताया कि ये दोनों जगह एक दूसरे के निकट नहीं हैं।


नए रिटर्न प्रणाली को लागू करने का निर्णय

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा जीएसटी के सरलीकरण की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए एक अप्रैल 2020 से जीएसटी के अंतर्गत नए रिटर्न प्रणाली को लागू किए जाने का निर्णय लिया गया है। नए रिटर्न प्रणाली के अंतर्गत फाइल किए जाने वाले रिटर्न का ट्रायल वर्जन, जीएसटी के वेबसाइट पर तथा सभी रजिस्टर्ड करदाताओं के लॉगिन पर उपलब्ध है। जीएसटी के सभी स्टेकहोल्डर्स अर्थात व्यापारी, वकील, कर सलाहकार तथा चार्टर्ड एकाउण्टेंट से इन नए रिटर्न को भरने तथा इसके संबंध में सुझाव देने की अपील, राज्य कर आयुक्त, छत्तीसगढ़ द्वारा की गई है। जिससे नए रिटर्न प्रणाली को लागू करने के पूर्व ही इसकी कमियों का पहचान कर उन्हें दूर कर लिया जाए। नई रिटर्न प्रणाली की जानकारी के लिए एक दिसम्बर से 06 दिसम्बर 2019 तक तथा सभी वृत्त कार्यालयों में व्यापारी, कर सलाहकार, वकील, एकाउण्टेंट तथा चार्टर्ड एकाउण्टेंट इत्यादि स्टेकहोल्डर्स को आमंत्रित कर उनसे ट्रायल रिटर्न भरवाए जाने का निर्देश राज्य कर आयुक्त द्वारा दिया गया है। इसी तारतम्य में 07 दिसम्बर को नवीन विश्राम गृह सिविल लाईन्स, रायपुर में केन्द्रीय जीएसटी एवं राज्य जीएसटी विभाग के संयुक्त तत्वाधान में स्टेकहोल्डर्स फीडबैक दिवस आयोजित किया जाएगा। मगयह कार्यक्रम राज्य कर आयुक्त श्रीमती रीना बाबासाहेब कंगाले की अध्यक्षता में तथा प्रधान आयुक्त, केन्द्रीय जीएसटी बी.बी. महापात्रा के मुख आतिथ्य में आयोजित किया जाएगा। इस आयोजन में विशेष अतिथि अपर आयुक्त, केन्द्रीय जीएसटी अजय तथा राज्य एवं केन्द्रीय जीएसटी के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में स्टेकहोल्डर्स से ट्रायल रिटर्न भरवाया जाकर उनसे फीडबैक लिया जाएगा।


तटरक्षक बल को अब अधिक ताकत

नई दिल्ली। भारत के समुद्री सीमा की सुरक्षा में तैनात तटरक्षक बल को अब और अधिक कानूनी ताकत मिल गई है। रक्षा मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार तटरक्षक बल के जवान अब भारत के समुद्री क्षेत्र में अपराधों में लिप्त किसी भी व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकते हैं। तटरक्षक बल के जवान किसी भी पोत पर सवार हो सकते हैं या उसे रोक सकते हैं। इसके अलावा ये भारतीय जलक्षेत्र से गुजर रहे किसी भी जहाज की तलाशी भी ले सकते हैं। तटरक्षक बल के एक अधिकारी ने बताया कि इससे पहले सीमा शुल्क कानून और एनडीपीएस कानून के तहत पोतों में सवार होने और उन्हें रोकने का अधिकार समुद्री सुरक्षा एजेंसी के पास था लेकिन सरकार के दो दिसंबर को जारी नए आदेश के तहत वह तटरक्षक कानून के तहत भी ये गतिविधियां कर सकता है।


400 शिवसैनिकों ने छोड़ी शिवसेना, बगावत

मुंबई! महाराष्ट्र का सियासी घमासान अभी पूरी तरह थमा भी नहीं कि शिवसेना में बगावत शुरू हो गई है। मुंबई के धारावी में लगभग 400 शिवसेना कार्यकर्ताओं ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली है। इतने शिवसैनिकों के एक साथ पार्टी छोड़ देना शिवसेना के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। 


बीजेपी में शामिल होने वाले यह कार्यकर्ता महाराष्ट्र में बनी महाविकास अघाड़ी की सरकार से नाराज हैं। उनका आरोप है कि शिवसेना ने हिंदू विरोधी और भ्रष्ट दलों के साथ हाथ मिला लिया है। शिवसेना के पूर्व कार्यकर्ता रमेश नाडार ने बताया कि हम सब खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। उन्होंने शिवसेना पर सिर्फ सरकार बनाने के लिए महाविकास आघाड़ी में शामिल होने का आरोप लगाया है। 
नाडार ने कहा कि पिछले सात साल से वे एनसीपी और कांग्रेस के खिलाफ लड़ रहे थे। चुनाव के दौरान उन्होंने लोगों के घर-घर जाकर वोट मांगे थे लेकिन अब वे उनसे कैसे चेहरा मिला पाएंगे जिनसे उन्होंने ईमानदार सरकार बनाने के लिए वोट मांगे थे। बता दें कि महाराष्ट्र में शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन करके सरकार बनायी है। तीन दलों सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाए जाने पर सहमति दी जिसके बाद मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण हुआ।


झारखंड विधानसभा मे लगी आग,कारण अज्ञात

रांची। झारखंड के नये विधानसभा भवन में बुधवार की देर शाम भीषण आग लग गयी। आग भवन की दूसरी मंजिल पर लगी है। आग लगने के कारणों का पता अब तक नहीं चल पाया है।


घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची और फायर ब्रिगेड सूचना दी। सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड की 12 से अधिक गाड़ियां मौके पर पहुंच चुकी हैं और आग पर काबू करने के लिए काफी मशक्कत कर रही हैं। एसएसपी अनीष गुप्ता ने बताया कि नये विधानसभा भवन के दूसरे तल्ले पर आग लगी है। शॉट सर्किट से आग लगने की आशंका है। वैसे अभी कारणों का पता नहीं चल पाया है। फिलहाल उस पर काबू पाने के प्रयास किये जा रहे हैं। जल्द ही उस पर काबू पा लिया जायेगा।


उल्लेखनीय है कि झारखंड राज्य के गठन के 19 साल बाद इसे अपना नया विधानसभा भवन मिला है। इस तीन मंजिला इमारत का निर्माण 465 करोड़ रुपये की लागत से हुआ है। तीन माह पहले 12 सितम्बर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड के नए विधानसभा भवन का उद्घाटन किया था। राज्य में 14 वर्ष तक राजनीतिक अस्थिरता रहने के कारण झारखंड को अपना नया विधानसभा भवन नहीं मिल पाया था। नए विधानसभा भवन के निर्माण को लेकर बाधाएं और चुनौतियां थीं परंतु वर्तमान सरकार ने दृढ़ इच्छाशक्ति दिखाते हुए सारी बाधाओं और चुनौतियों को स्वीकार कर राज्य की सबसे बड़ी पंचायत विधानसभा के निर्माण का रास्ता साफ किया था और झारखंड का नया विधानसभा भवन बनकर तैयार हुआ था।


देश का पहला पेपरलेस विधानसभा
39 एकड़ में 465 करोड़ की लागत से रांची के कूटे में देश का पहला पेपरलेस विधानसभा भवन बनकर तैयार हुआ है। 220 वर्ग मीटर क्षेत्र में बने भवन पर 37 मीटर ऊंचा गुम्बद और झारखंड की कला संस्कृति की झलक खुद में समेटे हुए है। मुख्य गुम्बद पर आदिवासी समुदाय की मूल अवधारणा जल, जंगल और जमीन को स्थानीय सोहराय चित्रकारी से प्रदर्शित किया गया है। दो भागों में 162 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था की गई है। 22 मंत्री कक्ष, 17 विधानसभा समिति कक्ष, मुख्य सचेतक, विधानसभा के पदाधिकारियों, कर्मचारियों के लिए माकूल प्रबंध किए गए हैं।


उन्नाव में बक्सर 'रेप' घटना की पुनरावृति

उन्नाव! बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को गुरुवार अल सुबह छह युवकों ने पेट्रोल डालकर जला दिया। पिता की सूचना पर पहुंची पुलिस ने पीड़िता को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां पीड़िता की हालत गंभीर देख कानपुर हैलट रेफर कर दिया गया है। 
पीड़िता ने बयान दिया है कि गुरुवार भोर पहर चार बजे वह रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने बैसवारा बिहार रेलवे स्टेशन जा रही थी। गौरा मोड़ पर गांव के हरिशंकर त्रिवेदी, किशोर शुभम, शिवम, उमेश ने घेर लिया और सिर पर डंडे से और गले पर चाकू से वार किया। वह चक्कर आने से गिरी  तो पेट्रोल डालकर आग लगा दी। शोर मचाने पर भीड़ को आता देख वह भाग निकले। पीड़िता ने बताया कि पूर्व में आरोपियों ने उसके साथ दुष्कर्म किया था। उधर, घटना की जानकारी मिलने पर डीएम देवेंद्र पांडे, एसपी विक्रांत वीर समेत कई थानों की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची। पीड़िता की हालत गंभीर देख कानपुर हैलट रेफर कर दिया गया है। 


बताया जा रहा है कि हमलावरों में तीन युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। उधर, घटना के बाद पूरे जिले में हड़कंप मचा गया है।


5 दिसंबर सीजन का सबसे ठंडा दिन

नई दिल्ली! देशभर में ठंड ने दस्तक दे दी है! राजधानी दिल्ली में आज (5 दिसंबर) सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा! दिल्ली में तापमान 8 डिग्री सेल्सियस से भी नीचे लुढक गया! सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर तापमान 7.6 डिग्री दर्ज किया गया! विजिबिलिटी 1200 मीटर रही! उधर, वायु गुणवत्ता की बात करें तो दिल्ली की हवा में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर बना हुआ है!


दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 300 के स्तर को पार कर गया है! आज सुबह दिल्ली का एक्यूआई 307 दर्ज किया गया! स्काईमेट ने लोगों से मॉर्निंग वॉक और घर के बाहर फिजिकल एक्टिविट न करने के लिए कहा है! चांदनी चौक, दिल्ली विश्वविद्यालय और नोएडा जैसे कुछ प्रमुख स्थानों में वायु की गुणवत्ता 'खराब' से लेकर 'बहुत खराब' श्रेणी में है! प्रदूषण के स्तर में वृद्धि का कारण शहर में हवा की कम रफ्तार है!


स्काईमेट के अनुसार आने वाले पांच दिनों में तापमान 7 से 8 डिग्री के बीच बना रहेगा जबकि हवा की गति धीमी होने के कारण वायु गुणवत्ता में सुधार के आसार नहीं हैं! वहीं, 10 दिसंबर के बाद से राजधानी में ठिठुरन बढ़ सकती है!


भाजपा विधायक-मेयर फिर आमने-सामने

ऊधमसिंह नगर। रुद्रपुर में भाजपा के जनप्रतिनिधि एक बार फिर आमने-सामने आ गए हैं। भाजपा के विधायक और मेयर प्रोटोकॉल को लेकर आमने-सामने आते दिखाई दे रहे हैं। बताते चलें कि बीते दिनों रुद्रपुर के आदर्श कॉलोनी में नगर निगम द्वारा पार्क में बनाई गई मूर्ति का अनावरण शिक्षा मंत्री द्वारा करवाया गया था। इस अनावरण के शिलापट पर स्थानीय विधायक राजकुमार ठुकराल का नाम नहीं था।


जबकि शिलापट में भाजपा के जिलाध्यक्ष का नाम लिखा हुआ था। इसके बाद विधायक राजकुमार ठुकराल ने नाराजगी जताते हुए कहा कि वह नगर निगम के पदेन सदस्य हैं लेकिन इस कार्यक्रम की अध्यक्षता उनसे ना करवाकर उनका अपमान किया गया है। इसके लिये उनके द्वारा नगर निगम को धारा 56 के तहत अवमानना का नोटिस देने की बात भी कही गई है। विधायक ठुकराल ने कहा कि उनके द्वारा मेयर के चुनाव में रामपाल सिंह को पूरी मेहनत और रात-दिन एक कर चुनाव लड़ाया गया था। लेकिन अब जीत के बाद मेयर दूसरों के हाथों में खेल रहे हैं।


वहीं रुद्रपुर के मेयर रामपाल सिंह भी इस मामले में पीछे दिखाई दे रहे हैं। उनका कहना है कि जब विधायक क्षेत्र में काम करवाते हैं तो प्रोटोकॉल भूल जाते हैं और मेयर का नाम शिलापट पर नहीं लिखवाया जाता है। उन्होंने कहा कि यदि विधायक नोटिस भेजते हैं तो वह नोटिस का भी जवाब के लिए तैयार हैं।


 


एनआरसी, भारत को इजराइल बना देगा

हैदराबाद! जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है! बताना चाहते है कि केंद्र सरकार ने बुधवार को नागरिकता संशोधन बिल को मंजूरी दे दी है, जिसके बाद इसे संसद में पेश किया जाएगा! वही दूसरी तरफ इस बिल को लेकर विपक्षी पार्टियों ने इसका विरोध शुरू कर दिया है! इसी कड़ी में अब ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईेएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने बुधवार को केंद्र सरकार पर बड़ा हमला बोला है! ओवैसी ने कहा कि  यदि इस लागू किया जाता है  तो “भारत को इजरायल बन जाएगा, जिसे “भेदभाव”  करने के लिए जाना जाता है! उन्होंने कहा यदि मीडिया रिपोर्ट सही है कि पूर्वोत्तर राज्यों को प्रस्तावित नागरिकता (संशोधन) विधेयक (सीएबी) कानून से छूट दी जाएगी तो यह अपने आप में आर्टिकल 14 का उल्लंघन है! ओवैसी ने कहा कि आपके पास देश में नागरिकता पर 2 कानून नहीं हो सकते! असदुद्दीन ओवैसी ने आगे कहा कि यह कानून अनुच्छेद 14 और 21 का उल्लंघन करता है क्योंकि आप धर्म के आधार पर नागरिकता दे रहे हैं! इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा कि अगर हम इस कानून को पारित करते हैं तो यह महात्मा गांधी और आंबेडकर का अपमान है!


गौरतलब है कि केंद्र की मोदी सरकार ने नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 समेत छह महत्वपूर्ण विधेयकों को आज हरी झंडी दिखाई है! देश के पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला लिया गया है!


योगी का पुराना नाम लेने पर एफआईआर दर्ज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का पुराना नाम लेने पर समाजवादी पार्टी के नेता आईपी सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। यह मामला अधिवक्‍ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने वाराणसी के शिवपुर थाने में दर्ज करवाई है। उनपर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा है। आपको बता दें कि आईपी सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट पर योगी आदित्‍यनाथ का पुराना नाम 'अजय सिंह बिष्‍ट' लिखा था।


अधिवक्ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने अपनी तहरीर में कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संत परंपरा के अनुसार जीवन जीते हैं। गोरक्ष पीठ के पीठाधीश्वर होने के बावजूद आईपी सिंह सोशल मीडिया पर योगी आदित्यनाथ की जगह अजय सिंह बिष्ट लिखते हैं। इस तरह वह संतों और उनकी परंपराओं के साथ सनातन धर्म में आस्था रखने वालों की भावनाओं को ठेस पहुंचाते हैं। आई पी सिंह पर आईटी एक्ट की धारा 67 (इलेक्ट्रॉनिक तरीके से घृणित वस्तु को प्रचारित करना) के तहत एफआईआर दर्ज किया गया है। जानकारी के मुताबिक यह एफआईआर बीते सोमवार को शिवपुर पुलिस स्टेशन में दर्ज किया गया है। कैनटॉनमेन्ट के सर्किल ऑफिसर मोहम्मद मुश्ताक ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि 'थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी कि आई पी सिंह ने धार्मिक भावनाओं को आहत किया है जिसके आधार पर यह एफआईआर दर्ज की गई है। उन्होंने मुख्यमंत्री का पुराना नाम लिया था...हमलोग इस मामले की तफ्तीश कर रहे हैं और जांच के बाद ही आगे की जानकारी दी जाएगी।'


सपा प्रवक्ता आईपी सिंह ने मुकदमा कायम होने की सूचना पर बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को टैग किए ट्वीट में लिखा कि असली नाम लेना अगर गुनाह है तो भेजिए पुलिस और गिरफ्तार करवा लीजिए मुझे। उत्तर प्रदेश पुलिस ने सीरिया को भी कहीं पीछे छोड़ दिया है।


इधर इस पूरे मामले पर समाजवादी पार्टी के नेता आई पी सिंह का दावा है कि उन्हें इस एफआईआर के बारे में मीडिया रिपोर्ट्स से पता चला है। समाजवादी पार्टी के नेता के मुताबिक 'पुलिस ने उन्हें इस मामले में अभी तक कुछ भी नहीं कहा है। उनका आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में बिना उनका पक्ष जाने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया मैंने यूपी के सीएम आदित्यनाथ का पुराना नाम लेकर कुछ गलत नहीं किया है।' एसपी नेता ने बीते बुधवार को ट्वीट कर कहा कि वो हाईकोर्ट जाएंगे और इस एफआईआर को चुनौती देंगे।


निर्भया-कांड के दोषियों को फांसी देगा 'पवन'

नई दिल्ली! देश में इस समय गैंगरेप और हत्या की घटनाओं से लोगों का गुस्सा एक बार फिर फूटने लगा है। निर्भया कांड के लंबे समय के बाद एक बार फिर पूरा देश इस तरह की जघन्य घटनाओं में दोषियों को फांसी की मांग को लेकर सड़क पर उतर गया है।


उन्नाव, हैदराबाद, रांची और बक्सर के अलावा कई घटनाएं सामने आने के बाद अब यह गुस्सा पूरे उफान पर है। ऐसे में निर्भया के दोषियों को फांसी देने की तैयारी जोर-शोर से की जा रही है। लेकिन उनको फांसी पर लटकाने का जिम्मा जिस जल्लाद को दिया गया है, उसके बारे में जानना ज़रुरी है।


कौन है पवन जल्लाद


निर्भया कांड के चारों गुनहगारों को फांसी देने के लिए मेरठ से पवन जल्लाद को बुलाया जा रहा है। उसकी चार पीढियां जल्लाद का काम करती रही हैं। उसके पिता कालू जल्लाद देश के जाने माने जल्लाद थे। इंदिरा गांधी के हत्यारों को सूली पर फंदे से लटकाने का काम उन्होंने किया था। पवन जल्लाद उन्हीं के बेटे हैं।


माना जा रहा है कि दिसंबर के दूसरे या तीसरे हफ्ते में निर्भया गैंगरेप के चारों गुनहगारों को फांसी की सजा दे दी जाएगी। यह फांसी पवन जल्लाद देगा, जिसकी चार पीढ़ियां यही काम करती रही हैं। पवन उत्तरप्रदेश सरकार की मेरठ जेल से जुड़े अधिकृत जल्लाद हैं। उसे हर महीने 5000 रुपये वेतन के रूप में भी मिलती है। इसके अलावा उन्हें हर फांसी के बदले 25 हज़ार रुपये भी दिये जाते हैं।


फांसी देने के अलावा क्या करते हैं पवन जल्लाद


पवन मेरठ के ही रहने वाले भी हैं। कई पीढ़ियों से ये लोग इसी शहर में रह रहे हैं। हालांकि इस शहर में उन्हें शायद ही कोई पहचानता हो। पार्ट टाइम में वह इस शहर में साइकिल पर कपड़ा बेचने का का काम करते हैं। करीब दो तीन साल पहले जब निठारी हत्याकांड के दोषी ठहराए सुरेंद्र कोली को फांसी दी जाने वाली थी, तब इसके लिए भी पवन को ही मुकर्रर किया गया था। बाद में वो फांसी टल गई।


भारतीय महिला (मूल्यांकन)

भारत को आजाद हुए अरसा गुज़र गया। भारत के स्वतंत्र होने के बाद महिलाओं की दशा और दिशा में काफी बदलाव आया है। महिलाओं को अब पुरुषों के बराबर अधिकार भी मिलने लगे हैं। महिलाएं आज वह सब काम आजादी से कर सकती है जिन्हें वे पहले करने में अपने आप को असमर्थ और असहज महसूस करती थी। स्वतंत्रता के बाद बने भारत के संविधान में महिलाओं को वे सब लाभ, अधिकार और काम करने की स्वतंत्रता दी गयी जिसकी वह हकदार थीं। सदियों से अपने साथ होते बुरे सुलूक और बेहूदा हरकतों के बावजूद महिलाएं आज अपने आप को सामाजिक बेड़ियों से मुक्त पाकर, आजाद महसूस करके और भी ज्यादा आत्मविश्वास और भरोसे के साथ परिवार, समाज और देश को आगे बढ़ाने के लिए लगातार कार्य कर रही है। आज राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री पद से लेकर हर जगह महिलाओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है।
यदि देखा जाए तो हमारे देश की आधी जनसँख्या का प्रतिनिधित्व महिलाएं करती है। महिला सशक्तिकरण के बाद स्थिति बदल गई है।  हम अंदाजा भी नहीं लगा सकते उस समय का जब उन्हें अपनी जिंदगी अपनी ख़ुशी से जीने की भी आजादी नहीं थी। परन्तु बदलते वक़्त और हालात के साथ इस नए ज़माने की नारी ने समाज में वो स्थान हासिल किया जिसे देखकर कोई भी गर्व करेगा। आज महिलाएं समाज सुधार, उधमी, प्रशासनिक सेवा, राजनयिक सेवा जैसे हर क्षेत्र में दिखाई दे रही हैं।
महिलाओं की स्थिति में सुधार ने देश के आर्थिक और सामाजिक सुधार की तस्वीर बदल दी। हम यह तो नहीं कह सकते कि महिलाओं के हालात पूरी तरह बदल गए है पर पहले की तुलना मे तरक्की हुई है।  महिलाएं अब  सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक क्षेत्रों को लेकर बहुत ज्यादा जागरूक है जिससे उनको परिवार तथा रोजमर्रा की दिनचर्या से संबंधित खर्चों का निर्वाह करने का मौका आसानी से मिल जाता है। हर क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी दिन-प्रतिदिन बढती जा रही है।   विजयलक्ष्मी पंडित, एनी बेसंट, महादेवी वर्मा,  पी.टी उषा, अमृता प्रीतम, पदमजा नायडू, कल्पना चावला, मदर टेरेसा, इंदिरा गांधी, और न जाने कितने ऐसे नाम जिन्होंने महिलाओं की जिंदगी के मायने बदल दिए हैं। आज महिलाएं हर रूप में सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, शिक्षा, विज्ञान तथा अन्य विभागों में अपनी सेवाएं दे रही है। वे अपनी पेशेवर जिंदगी के साथ-साथ पारिवारिक जिम्मेदारियों को भी बख़ूबी निभा रही है। इतना सब हो जाने के बाद भी प्रतिदिन हमें मानसिक तथा शारीरिक उत्पीड़न से जुडी ख़बरें सुनने को मिल जाती है।
भारत में महिलाएं हर तरह की हिंसा का शिकार हुई हैं। भारतीय समाज के द्वारा दी गई क्रूरता को महिला को सहन करना पड़ता है चाहे वह घरेलू हो या फिर शारीरिक, सामाजिक अथवा मानसिक हो।  समय के बदलने के साथ-साथ महिलाओं की स्थितियों में भी काफी बदलाव आता चला गया। जिसका नतीजा यह हुआ कि हिंसा के कारण महिलाओं ने अपने शिक्षा के साथ सामाजिक, राजनीतिक तथा अन्य क्षेत्रों में भागीदारी के अवसर भी खो दिए। इसके जिम्मेदार भी हम हैं। हमारी सोच जिम्मेदार है।
महिलाओं को भरपेट भोजन नहीं दिया जाता था, मनपसंद कपड़े पहनने की अनुमति नहीं थी, जबरदस्ती विवाह होता था,     भारतीय समाज में ऐसा माना जाता है की हर महिला का पति उसके लिए भगवान की तरह है।  हर चीज़ के लिए उन्हें अपने पति पर निर्भर रहना चाहिए। 
 नववधू की हत्या, कन्या भ्रूण हत्या और दहेज़ प्रथा महिलाओं पर होती बड़ी हिंसा का उदाहरण है। इसके अलावा महिलाओं को भरपेट खाना न मिलना, सही स्वास्थ्य सुविधा की कमी, शिक्षा के प्रयाप्त अवसर न होना, नाबालिग लड़कियों का यौन उत्पीड़न, दुल्हन को जिन्दा जला देना, पत्नी से मारपीट, परिवार में वृद्ध महिला की अनदेखी आदि समस्याएँ आज भी महिलाओं की कहानी बयान करती हैं। इंसान होने के कारण हमें इंसान का सम्मान करना चाहिए चाहे वह स्त्री हो या पुरुष।


सैय्यद एम. अली तक़वी
निदेशक- यूरिट एजुकेशन इंस्टीट्यूट, लखनऊ


कैंप में मारे गए 6 जवानों को आखरी सलामी

रायपुर। कटेनार ITBP कैंप में मारे गए 6 जवानों को अंतिम सलामी दी गई। निर्धारित समय से पूर्व और तय स्थान से अलग एयरपोर्ट पर जवानों को श्रद्धांजलि दी गई है। दिल्ली से आए ITBP के ADG अरविंद कुमार भी जवानों के अंतिम विदाई में शामिल हुए। ITBP के IG एके गौतम समेत राज्य पुलिस के अधिकारियों ने भी जवानों को अंतिम सलामी दी। बता दें आगे की फ्लाइटों की टाइमिंग की वजह से अंतिम सलामी का समय और स्थान बदला गया। सलामी के बाद 3 शव कोलकत्ता, 2 दिल्ली और एक कोच्चि रवाना कर दिया गया!


'वित्त मंत्री' के जवाब पर संसद में ठहाके लगे

नई दिल्ली! देश में प्याज की कीमतों ने आम आदमी के बजट को बिगाड़ कर रख दिया है। इसकी कीमतों पर अंकुश लगाने के सरकारी प्रयास विफल होते हुए दिखाई दे रहे हैं। इस मुद्दे पर विपक्ष सरकार पर सवाल खड़े कर रहा है।


वहीं बुधवार को संसद में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि वह इतना लहसुन, प्याज नहीं खाती हैं। वह इस तरह के परिवार से आती हैं जहां ज्यादा प्याज-लहुसन का मतलब नहीं है। उनके इस बयान पर सदन में काफी ठहाके लगे।लोकसभा में प्याज खाने को लेकर कुछ सदस्यों के सवालों के जवाब में निर्मला ने कहा, मैं इतना लहुसन, प्याज नहीं खाती हूं जी। मैं ऐसे परिवार से आती हूं जहां प्याज से मतलब नहीं रखते। महाराष्ट्र के बारामती से राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सांसद सुप्रिया सुले के सवालों का जवाब देने के लिए वित्त मंत्री खड़ी हुई थीं। उसी दौरान कुछ सदस्यों ने सवाल किया कि क्या आप प्याज खाती हैं। सदस्यों के इस सवाल पर उन्होंने यह जवाब दिया।


इससे पहले सांसद सुले ने एनपीए और प्याज के किसानों का मुद्दा उठाया था। उन्होंने कहा, मैं सरकार से प्याज को लेकर एक छोटा सा सवाल करना चाहती हूं। सरकार मिस्र से प्याज मंगवा रही है, प्याज की व्यवस्था कर रही है। मैं सरकार के इस कदम की सराहना करती हूं। मैं महाराष्ट्र से आती हूं जहां बड़े पैमाने पर प्याज की पैदावार होती है लेकिन मैं पूछना चाहती हूं कि आखिर प्याज का उत्पादन क्यों गिरा? छोटे किसान प्याज का उत्पादन करते हैं और उन्हें बचाने की जरुरत है।


कांग्रेस: संसद परिसर में प्याज को लेकर धरना

नई दिल्ली! देश भर में प्याज की कीमतें आसमान छू रही हैं और विपक्षी दल इस मुद्दे पर लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। कांग्रेस ने आज संसद परिसर में प्याज की कीमतों को लेकर प्रदर्शन किया। जमानत मिलने के बाद आज संसद पहुंचे पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम भी इस प्रदर्शन में शामिल हुए। कांग्रेस सांसदों के साथ चिदंबरम ने पोस्टर लेकर बढ़ती कीमतों के खिलाफ प्रदर्शन किया।
संसद परिसर में कांग्रेस सांसदों का प्रदर्शन
प्याज की कीमतों को लेकर कांग्रेस सांसदों ने संसद में प्रदर्शन किया। उनके हाथों में 'महंगाई पर प्याज की मार, चुप क्यों है मोदी सरकार', 'कैसा है ये मोदी राज, महंगा राशन, महंगा प्याज' जैसे पोस्टर लेकर पहुंचे थे। पी. चिदंबरम भी इस प्रदर्शन में शामिल हुए। चिर-परिचित अंदाज में पूर्व वित्त मंत्री पारंपरिक परिधान में संसद पहुंचे और एक पोस्टर लेकर कांग्रेस सांसदों के साथ खड़े हुए। अन्य सांसद इस दौरान नारे भी लगा रहे थे, लेकिन पूर्व वित्त मंत्री मुस्कुराते हुए पोस्टर लेकर खड़े रहे।
आप सांसद भी संसद में प्याज की माला पहन कर चुके प्रदर्शन
इससे पहले प्याज कीमतों को लेकर आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद भी प्रदर्शन कर चुके हैं। आप सांसद संजय सिंह और सुशील गुप्ता ने केंद्र सरकार को प्याज की बढ़ती कीमतों के लिए जिम्मेदार ठहराया। आप सांसदों ने आरोप लगाया था कि गोदाम में प्याज सड़ गया, लेकिन केंद्र सरकार ने उसे कम कीमत पर लोगों तक पहुंचाने का काम नहीं किया।
100 रुपये के करीब है प्याज की कीमतें
दिल्ली समेत देश के ज्यादातर हिस्सों में प्याज की कीमतें काफी बढ़ गई हैं। दिल्ली और एनसीआर में प्याज 80 रुपये से लेकर 100 रुपये तक मिल रहा है। केंद्र सरकार का कहना है कि प्याज की ज्यादातर फसल इस बार कई राज्यों में अतिवृष्टि के कारण खत्म हो गई, इस कारण कीमतें बढ़ी हैं।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


दिसंबर 06, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-122 (साल-01)
2.  शुक्रवार, दिसंबर 06, 2019
3. शक-1941, मार्गशीर्ष- शुक्लपक्ष, तिथि- दसमी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:50,सूर्यास्त 05:46
5. न्‍यूनतम तापमान -11 डी.सै.,अधिकतम-24+ डी.सै., आसमान साफ रहेगा।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित



शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...