बुधवार, 27 मई 2020

मंदिरों में रखी धातु सामग्री भी बिकेंगे


  • त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड का फैसला अनयूज्ड सामान को किया जाएगा नीलाम

  • कई मंदिरों में रोज दान में आते हैं हजारों दीपक और बर्तन

  • अकेले गुरुवायूर मंदिर में 9000 दीपक का रोज दान


नई दिल्ली। लॉकडाउन के चलते देश में कई मंदिरों की आर्थिक स्थिति गड़बड़ा रही है। इन सब के बीच केरल में मंदिरों की आय बढ़ाने और आर्थिक आधार को मजबूत करने के लिए त्रावणकोर देवास्वम् बोर्ड (टीडीबी) केरल के मंदिरों में रखे अनयूज्ड बर्तन और तांबे-पीतल को बेचने जा रहा है। इनकी मात्रा कई सौ टन में है। टीडीबी केरल में 1248 मंदिरों के प्रबंधन का काम करता है। इसमें प्रसिद्ध सबरीमाला अयप्पा मंदिर, तिरुवनंतपुरम में पद्मनाभस्वामी मंदिर, हरिपद श्री सुब्रह्मण्य मंदिर, एट्टमनूर महादेवा मंदिर और अंबालापुजा श्री कृष्ण मंदिर शामिल हैं। हालांकि, टीडीबी के इस फैसले से कई लोगों में निराशा और गुस्सा भी है। सोशल मीडिया पर लोग इसका विरोध भी कर रहे हैं। 


फिलहाल, हिसाब तैयार हो रहा


टीडीबी उन दीपकों और बर्तनों की नीलामी करने की योजना बना रहा है जो भक्तों द्वारा दान किए गए थे। टीडीबी अभी इसका हिसाब बना रहा है। इससे एक बड़ी राशि मिलने की उम्मीद है। केरल में ऐसे कई मंदिर हैं, जिनमें धातु के दीपकों और बर्तनों की बड़ी मात्रा में दान आता है। जैसे सबरीमाला और गुरुवायूर मंदिर। इन एक-एक दीपक की कीमत 3000 से 5000 के बीच होती है। केरल के सभी 1248 मंदिरों में बड़ी मात्रा में ऐसे दीपक और अन्य बर्तन हैं, जिनका कोई उपयोग नहीं हो पा रहा है। 


 

संभालना आसान नहीं


ऐसे बर्तनों और दीपकों को संभालना और उनका ऑडिट करवाना ज्यादा मुश्किल काम है। इस स्थिति को देखते हुए बोर्ड ने फैसला किया है कि इस तरह की सारी सामग्रियों की नीलामी कर दी जाएगी। इससे आने वाली राशि से काफी काम हो सकेंगे। कई प्रोजेक्ट्स पूरे हो सकेंगे। बोर्ड के जनसंपर्क विभाग का कहना है कि ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है। पहले भी ऐसा होता आया है। पहले मंदिरों से इन दीपक और बर्तनों को फिर से पीतल बनाने के लिए बेचा जाता था लेकिन उससे कोई रेवेन्यू नहीं मिलता था। इसलिए, इस बार इन्हें ऐसे ही बेचा जाएगा।  


गुरुवायुर और सबरीमाला मंदिर के अलावा भी केरल के कई देवी मंदिरों में सुख-शांति और गृहस्थ सुख के लिए पीतल के बर्तनों और दीपकों का दान किया जाता है।




  • केरल में रिवाज है नेयविल्लकु समरपनम् 




केरल में मंदिरों में पीतल के बड़े-बड़े दीपक दान करने का रिवाज है। इसे नेयविल्लकु समरपनम् कहा जाता है। यहां मान्यता है कि घी के दीपक दान करने से घर में सुख-समृद्धि आती है। यहां गुरुवायूर मंदिर में रोज लगभग 8000 से 9000 तक दीपक दान में आते हैं। उसी तरह, कई मंदिरों में पीतल के बर्तन जैसे उरुली (एक बड़ा खुला बर्तन) दिया जाता है। न्य देवी मंदिरों में भी, भक्तों द्वारा पीतल के उरुलियां दी जाती हैं। इसी तरह से कई अन्य पीतल की चीजें जैसे थट्टू (प्लेट्स), देवताओं की छोटी मूर्तियां, बर्तन आदि। ऐसे में इन सबको संभालने के लिए एक बड़ी जगह का आवश्यकता होती है। इन्हें संभाले रखने का कोई अर्थ भी नहीं है। 



  • सबसे बड़े धार्मिक बोर्ड में है त्रावणकोर 


त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड देश के सबसे बड़े धार्मिक बोर्ड्स में से है। इसके अधिकार में 1248 मंदिर आते हैं। कैग (CAG) और केरल हाईकोर्ट के लोकपाल की निगरानी में इसका सारा काम होता है। टीडीबी में लगभग 6500 कर्मचारी हैं, जिनमें ज्यादातर ज्यादातर पुजारी, सहायक पुजारी, मंदिर के कलाकार, कलाकार और अन्य मंदिर व्यवस्थापक कर्मचारी हैं। टीडीबी कर्मचारी सरकारी कर्मचारी की तरह ही होते हैं और इसलिए उन्हें सभी सरकारी लाभ मिलते हैं, जैसे निश्चित वेतन, रिटायरमेंट के बाद पेंशन।


लोकतांत्रिक ढांचे को उखाड़ने की कोशिश

नई दिल्ली/मुंबई। महाराष्ट में मचे सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने फिर भारतीय जनता पार्टी पर हमला बोला है। राहुल गांधी ने कहा कि बीजेपी को सवाल खड़े करने हैं तो करे, विपक्ष को सवाल करना भी चाहिए ये लोकतंत्र के लिए अच्छा है। उन्होंने कहा कि सवाल करने से सरकार को भी फायदा होता है, लेकिन राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग करना लोकतांत्रिक ढांचे को उखाड़कर फेंकने जैसा है। इससे पहले मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल ने कहा था कि हम महाराष्ट्र में सरकार को समर्थन कर रहे हैं, लेकिन फैसला लेने की क्षमता में नहीं हैं। हम पंजाब-छत्तीसगढ़-राजस्थान में फैसला लेने की क्षमता में हैं।


राहुल गांधी ने कहा कि जितनी ज्यादा कनेक्टटेड जगह हैं, वहां कोरोना होता है। मुंबई-दिल्ली में इसलिए अधिक मामले हैं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र को भी केंद्र सरकार की ओर से मदद मिलनी चाहिए। हम सिर्फ केंद्र सरकार को सुझाव दे सकते हैं, लेकिन सरकार को क्या मानना है वो उनके ऊपर ही है।


बता दें कि महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और बीजेपी नेता नारायण राणे ने सोमवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से उनके आवास पर मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की। उनका कहना था कि उद्धव सरकार कोरोना वायरस को रोकने में नाकाम साबित हो रही है।


महाराष्ट्र में सियासी हलचल तेज, पवार-उद्धव मिले, संजय राउत बोले- सरकार को खतरा नहीं


इसके बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और NCP सुप्रीमो शरद पवार की मुलाकात हुई थी, जिसके बाद कई तरह की अटकलें लगाई जाने लगी थीं। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने उद्धव सरकार पर संकट की भी बात कही थी। हालांकि इस पर महा विकास अघाड़ी के दलों ने सफाई दी कि सरकार स्थिर और मजबूत है।


विधायक के बेटे को हिन्दुस्तान पसंद नहीं




भाजपा विधायक उमेश मलिक के सुपुत्र शुभम मलिक को पसंद नहीं हिंदुस्तान~दिनेश गुर्जर

भाजपा विधायक के सुपुत्र को पसंद नहीं हिंदुस्तान

जिला अध्यक्ष समाजवादी लोहिया वाहिनी

 भाजपा विधायक के सुपुत्र पर हो एनएसए के तहत कार्रवाई 

अश्वनी उपाध्याय

गाजियाबाद। समाजवादी लोहिया वाहिनी जिला अध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने आज सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोनी एसडीएम को ज्ञापन सोपा दिनेश गुर्जर ने पत्रकारों से रूबरू होते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा के बुढाना विधायक उमेश मलिक के अमेरिका में रह रहे बेटे शुभम मलिक की इंस्टाग्राम पोस्ट और सोशल मीडिया पर भारत विरोधी वीडियो डालने के बाद उन्होंने भारत का मजाक उड़ाया है शुभम मलिक कई सालों से अमेरिका में रह रहे हैं इंस्टाग्राम पर शुभम मलिक का एसमलिकडॉट 369 के नाम से अकाउंट है जो अकाउंट उन्होंने फिलहाल डिलीट कर दिया है उन्होंने इंस्टाग्राम पर भारत विरोधी पोस्ट डाली है शुभम मलिक ने कई बिंदुओं के माध्यम से अमेरिका व भारत की तुलना की है जिसमें अमेरिका को शुभम मलिक ने महान व हिंदुस्तान का मजाक उड़ाया गया है पोस्ट में उन्होंने कहा है कि में 8 साल से यूएसए में रह रहा हूं और यूएसए ओर भारत ने मुझे क्या दिया है उन्होंने कहा इंस्टाग्राम पर कि अमेरिका ने मुझे सम्मान शिक्षा प्यार धनसंपदा आत्मविश्वास ज्ञान सच्चे दोस्त शोहरत और खुशी दी है जबकि हिंदुस्तान ने उन्हें सापेक्ष उपेक्षा अज्ञानता घृणा हंसी का पात्र हताशा झूठे दोस्त अनदेखी निराशा और दुख ही दुख दिया है उनकी इस पोस्ट पर एक तरफ अमेरिका का झंडा तो दूसरी तरफ हिंदुस्तान का तिरंगा है शुभम मलिक के द्वारा इंस्टाग्राम पर कई वीडियो भी शेयर किए गए हैं जिसमें वह कह रहे हैं कि इंडियन नॉट लाइक मी इस तरह की बातें हिंदुस्तान को तोड़ने का काम करती है मैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अनुरोध करूंगा कि भाजपा विधायक पुत्र पर एनएसए के तहत कार्रवाई की जाए और इसके पीछे जो भी दोषी लोग हैं उन पर भी सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए ज्ञापन देने वालों में प्रमुख रूप से दिनेश गुर्जर जिला अध्यक्ष समाजवादी लोहिया वाहिनी अनीस अली जिला अध्यक्ष मुलायम सिंह यूथ बिग्रेड रवि शंकर बाल्मीकि राष्ट्रीय सचिव समाजवादी युवजन सभा मनोज पंडित पूर्व महानगर अध्यक्ष युवजन सभा मोहम्मद गफ्फार पूर्व जीडीए बोर्ड मेंबर माजिद चौधरी रिंकू पहलवान आदि लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए ज्ञापन सौंपा।




 








Quick Reply

हरे निशान पर खुला 'शेयर बाजार'

नई दिल्ली। लगातार दूसरे कारोबारी दिन आज शेयर बाजार हरे निशान पर खुला। बुधवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स में मामूली बढ़त देखी गई। यह 0.33 फीसदी की बढ़त के साथ 99.50 अंक ऊपर 30708.80 के स्तर पर खुला। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.58 फीसदी की तेजी के साथ 52 अंक ऊपर 9081.05 के स्तर पर खुला। शेयर बाजार के अनंतिम आंकड़ों के मुताबिक विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने मंगलवार को पूंजी बाजार में 4,716.13 करोड़ रुपये की इक्विटी खरीदी।


वैश्विक बाजारों का हाल : मंगलवार को दुनियाभर के ज्यादातर बाजारों में बढ़त देखने को मिली, जिसका असर घरेलू बाजार पर पड़ा। अमेरिका का डाउ जोंस 2.17 फीसदी की बढ़त के साथ 529.95 अंक ऊपर 24,995.10 पर बंद हुआ था। नैस्डैक 0.17 फीसदी बढ़त के साथ 15.63 अंक ऊपर 9,340.22 पर बंद हुआ था। एसएंडपी 1.23 फीसदी बढ़त के साथ 36.32 अंक ऊपर 2,991.77 पर बंद हुआ था। चीन का शंघाई कम्पोसिट 0.22 फीसदी गिरावट के साथ 6.18 अंक नीचे 2,840.37 पर बंद हुआ था। साथ ही इटली, फ्रांस और जर्मनी के बाजार में बढ़त देखने को मिली थी।    


दिग्गज शेयरों का हाल : दिग्गज शेयरों की बात करें, तो आज हिंडाल्को, कोटक बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बंक, टाटा मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प, यूपीएल, सन फार्मा और वेदांता लिमिटेड के शेयर हरे निशान पर खुले। वहीं चाइचन, एम एंड एम, ओएनजीसी, गेल, अडाणी पोर्ट्स, कोल इंडिया, आईटीसी, एनटीपीसी, जेएसडब्ल्यू स्टील और डॉक्टर रेड्डी के शेयर लाल निशान पर खुले। 


मंगलवार को मामूली गिरावट पर बंद हुआ था बाजार :
मंगलवार को दिनभर की बढ़त गंवाकर शेयर बाजार मामूली गिरावट पर बंद हुआ था। सेंसेक्स 0.21 फीसदी की गिरावट के साथ 63.29 अंक नीचे 30609.30 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 0.11 फीसदी लुढ़ककर 10.20 अंक नीचे 9029.05 के स्तर पर बंद हुआ था।


बिगड़ते जा रहे हैं महाराष्ट्र के हालात

मुंबई। लॉक डाउन के 64वें दिन तक देश में कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों की संख्या 1 लाख 50 हजार से अधिक हो गई है, जबकि इस वायरस से अब तक 4337 लोगों की मौत हो गई है। देश में कोरोना वायरस से संक्रमण की रफ्तार बढ़ती जा रही है। कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा कहर महाराष्ट्र में देखने को मिल रहा है। महाराष्ट्र राज्य कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है। महाराष्ट्र पुलिस की ओर से जारी कोरोना बुलेटिन के मुताबिक, राज्य में पिछले 24 घंटे में 75 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमित पुलिसकर्मियों की संख्या 1964 हो गई है, जिसमें से 1095 सक्रिय हैं, 849 लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं और 20 लोगों की मौत हो चुकी है।


महाराष्ट्र में 2091 नए केस :
महाराष्ट्र में मंगलवार को कोविड-19 के 2091 नए मामले सामने आने के साथ प्रदेश में कुल संक्रमितों की संख्या 54,758 हो गई है। राज्य स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य में कोरोना वायरस से 97 और लोगों की मौत के साथ महामारी में जान गंवाने वालों की संख्या अब 1,792 तक पहुंच गई है।


वार्ड का निरीक्षण, मरीजों से बातचीत

योगी ने राम मनोहर लोहिया अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड का किया निरीक्षण, मरीजों से की बातचीत

 

अकाशुं उपाध्याय

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस कोविड-19 का कहर जारी है। दिन-प्रतिदिन इससे संक्रमित मरीजों में इजाफा देखने को मिल रहा है। उत्तर प्रदेश में  संक्रमण की बढ़ती गति से शासन के माथे पर चिंता की लकीरें साफ नजर आने लगी है और इस पर नियंत्रण पाना अभी दूर की कौड़ी है। जिसके चलते सुबह के मुख्यमंत्री ने कमान अपने हाथों में ले ली है। स्थिति को ध्यान में रखते हुए बुधवार को प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ लखनऊ स्थित राम मनोहर लोहिया अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड का निरीक्षण करने पहुंचे। यहां उन्होंने स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा लेने के साथ-साथ अस्पताल में भर्ती मरीजों से बातचीत कर हालचाल जाना। इस दौरान उनके साथ कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना भी मौजूद रहे।

क्वॉरेंटाइन केंद्र से भाग, दारू-मुर्गा उड़ाया

जौनपुर: क्वारंटाइन सेंटर से गायब होकर उड़ा रहे थे मुर्गा-दारू, मुकदमा दर्ज


जौनपुर। जिले में क्वारंटीन सेंटर को लेकर बरती जा रही लापरवाही को लेकर डीएम द्वारा कार्रवाई का मामला सामने आया है। इस दौरान क्वारंटाइन सेंटर से गायब होकर पार्टी कर रहे तीन युवकों को पकड़ा गया, जिनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
जौनपुर जिले में प्रवासी मजदूरों के आने से कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। वहीं जिलाधिकारी इस फैलते संक्रमण को लेकर काफी चिंतित हैं। इसी कड़ी में ग्राम प्रधान से शिकायत मिली कि सूरत से आया एक युवक क्वारंटीन सेंटर से गायब है। डीएम ने टीम के साथ सेऊर प्राथमिक विद्यालय से थोड़ी दूर तीन युवकों को मुर्गा-दारू पार्टी करते हुए पकड़ा है। तीनों युवकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के साथ ही क्वारंटीन सेंटर ले आया गया।


मुर्गा-दारू पार्टी करते पकड़े गए तीन युवक
जिलाधिकारी मड़ियाहूं क्षेत्र के 5 क्वारंटीन सेंटरों पर पहुंचे और निरीक्षण किया। इस दौरान डीएम दिनेश कुमार सिंह को मुंबई और अन्य राज्यों से गांव में आए लोगों के घूमने की शिकायत मिली थी। ये सभी क्वारंटीन सेंटर में रहने के बावजूद भी घूम रहे थे। इसके बाद उन्होंने सभी बीडीओ, थानाध्यक्षों को फोन कर प्रतिदिन पांच गांवों में भ्रमण करने का निर्देश दिया है। डीएम की टीम ने मुर्गा-दारू पार्टी कर रहे तीन लोगों को गांव से पकड़ा है। तीनों युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के बाद इन्हें वापस क्वारंटीन सेंटर लाया गया।


महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग

मुंबई। महाराष्ट्र में कोरोना को लेकर किए गए लॉकडाउन के बीच एकबार फिर से सियासी हलचल शुरू हो गई है। एक ओर जहां महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और बीजेपी नेता नारायण राणे ने सोमवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से उनके आवास पर मुलाकात कर राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की। वहीं दूसरी ओर कोटाव ठाकरे के घर पर एक गुप्त बैठक हुई। इसके साथ ही राजनीतिक गलियारों में चर्चा शुरू हो गई है कि क्या महाराष्ट्र में महाविकास आघाडी सरकार में है? या फिर केंद्र सरकार कोई बड़ा फैसला लेने के लिए तैयार है?


जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र के सत्ता का केंद्र बने मातोश्री (उद्धव ठाकरे के घर) पर, एनसीपी सुप्रीमो शरण पवार, सीएम उद्धव ठाकरे और शिवसेना नेता संजय राऊत के बीच सोमवार शाम गुप्त बैठक हुई। यह बैठक महत्वपूर्ण इसलिए भी है क्योंकि लंबे अंतराल के बाद एनसीपी सुप्रीमो मातोश्री पहुंचे थे। हैरान करने वाली बात यह है कि विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद 36 दिन तक चले सत्ता के संघर्ष के बीच एक बार भी शरद पवार मातोश्री नहीं गए, और इस वक्त में उनकी मातोश्री जाना कई सवाल खड़े कर रहा है।


गवर्नर से मिले पवारः इससे पहले सोमवार को ही राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार को मिलने के लिए राजभवन बुलाया। उनके साथ एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल भी थे। 20 मिनट तक की मुलाकात के बाद बाहर निकलकर प्रफुल्ल पटेल ने कहा, ‘राज्यपाल के बुलावे पर हम यहां आए। हमारे बीच कोई राजनीतिक चर्चा नहीं हुई।’ हालांकि, प्रफुल्ल पटेल का यह बयान लोगों के गले नहीं उतरा कि अगर राजनीतिक चर्चा नहीं करनी थी, तो फिर राज्यपाल ने शरद पवार को मिलने क्यों बुलाया था?


अंदर कुछ तो पक रहा हैः पिछले कुछ दिनों के घटनाक्रम को देखते हुए महाराष्ट्र की राजनीति में दखल रखने वालों को यह लग रहा है कि राज्य की राजनीति में कुछ तो पक रहा है। राज्य की महा विकास आघाडी सरकार खासकर शिवसेना और राज्यपाल के बीच बढ़ते टकराव और राज्य में कोरोना वायरस के अनियंत्रित होते जाने की खबरों के बीच राष्ट्रपति शासन की चर्चा के चलते शरद पवार का राज्यपाल से मिलने जाना कई तरह की राजनीतिक चर्चाओं को को जन्म दे रहा है। इसकी एक बड़ी वजह शरद पवार के साथ एनसीपी नेता प्रफुल पटेल का राजभवन जाना भी है। क्योंकि, प्रफुल्ल पटेल अपने गुजराती कनेक्शन की वजह से केंद्र की राजनीति में अमित शाह और नरेंद्र मोदी के भी करीबी माने जाते हैं।


इन 3 नेताओं की मंत्रणाः सूत्रों के मुताबिक करीब 20 दिन पहले देवेंद्र फडणवीस, चंद्रकांत पाटील और अमित शाह के बीच एक बार मंत्रणा हो चुकी है। इसके बाद ही बीजेपी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को टारगेट करना शुरू किया है। सरकार के खिलाफ राज्य भर में बीजेपी का आंदोलन, बीजेपी नेताओं का सोशल मीडिया पर शिवसेना के खिलाफ आक्रामक होना, देवेंद्र फडणवीस का सीधे उद्धव ठाकरे को टारगेट करना। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल का रविवार को उद्धव ठाकरे पर सीधा हमला बोलना और एनसीपी के खिलाफ मौन रहना किसी स्ट्रेटेजी का भाग हो सकता है। राजनीतिक विश्लेषकों की नजर में सरकार और राजभवन के बीच विभिन्न मुद्दों पर लगातार बढ़ते जा रहे टकराव के मद्देनजर यह सामान्य संकेत नहीं है।


अटकलें ये भी हैंः मुंबई और दिल्ली के राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा है कि बीजेपी जल्द से जल्द कुछ भी करके महाराष्ट्र की सत्ता में बदलाव चाहती है। फिर चाहे वह शिवसेना के साथ हो या शिवसेना के बगैर। दिल्ली के स्रोतों का यह भी कहना है कि महाराष्ट्र में बीजेपी की सत्ता का रास्ता राजभवन से ही निकलेगा। इसीलिए बीजेपी लगातार राज्य में इस तरह का माहौल बनाने की कोशिश कर रही है, जिसमें राजभवन राजनीति के केंद्र में रहे।


फिर 2 हफ्ते तक बढ़ेगा 'लॉक डाउन'

नई दिल्ली। कोरोना संकट के मद्देनजर लॉकडाउन के पांचवें चरण का खाका अभी ,से तैयार किया जा रहा है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, लॉकडाउन 5.0 के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जल्द ही मन की बात कर सकते हैं। लॉकडाउन के पांचवें चरण में कोरोना प्रभावित 11 शहरों को छोड़कर बाकी देश में छूट का दायरा बढ़ाया जा सकता है।


सूत्रों का कहना है कि लॉकडाउन का पांचवा चरण 11 शहरों पर केंद्रित होगा, जिसमें दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, पुणे, ठाणे, इंदौर, चेन्नई, अहमदाबाद, जयपुर, सूरत और कोलकाता शामिल हैं। इन शहरों में देश के कुल कोरोना केस का 70 फीसदी से अधिक केस है। 5 शहरों (अहमदाबाद, दिल्ली, पुणे, कोलकाता, मुंबई) में तो कुल केस के 60 फीसदी मरीजों की पुष्टि हो चुकी है।


लॉकडाउन के पांचवें चरण में केंद्र की ओर से धार्मिक स्थलों को खोलने की छूट दी जा सकती है, लेकिन नियम और शर्तें लागू रहेंगी। धार्मिक स्थल पर कोई भी मेला या महोत्सव मनाने की छूट नहीं होगी। साथ ही अधिक संख्या में लोग इकट्ठा नहीं होंगे। मास्कर पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य होगा। लॉकडाउन 5.0 के दौरान सभी जोन में सैलून और जिम को खोलने की इजाजत दी जा सकती है, सिर्फ कंटेनमेंट जोन छोड़कर। हालांकि, इस चरण में किसी स्कूल, कॉलेज-यूनिवर्सिटी को खोलने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। साथ ही माल और मल्टीप्लैक्स को भी बंद रखा जा सकता है।


तुझे कीड़े पड़ जईयो 'संपादकीय'

तुझे कीड़े पड़ जईयो   'संपादकीय'

संपूर्ण विश्व कोरोना वायरस कोविड-19 के कहर से त्रस्त है। विश्व के महानतम जीव वैज्ञानिक, औषधि विज्ञान पर अनुसंधानरत है। लेकिन सब असमंजस के बीच भंवर में खड़े एक दूसरे को आशा भरी नजरों से देख रहे हैं। सामर्थ और शक्ति को धारण करने वाले राजनेताओं में बौखलाहट बढ़ती जा रही है। इसका प्रभाव हमारे देश में भी कम नहीं है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व सार्वजनिक वक्तव्य में बौखलाहट के स्पष्ट साक्ष्य मिले हैं। उन्होंने देश की कुल आबादी से कई करोड़ की गिनती खत्म कर दी। उनकी दृष्टि में भारत में केवल 130 करोड़ की ही आबादी रहती हैं। शायद अब उन्हें इस बात का आभास हो गया है कि सृष्टि का संचालन नियति पर ही निर्भर रहता है, जो मानव विवेक से अत्यंत सुदूर और निर्धारित बना रहता है। इसके विपरीत उचित समय पर संतुलित निर्णय लेकर दूरगामी दृष्टिकोण का प्रमाण भी प्रधानमंत्री के द्वारा दिया है। किंतु सफलता और असफलता के बीच कठोर निर्णय क्षमता के साथ-साथ दृढ़ इच्छाशक्ति भी आवश्यक है। जिसका वर्तमान में प्रधानमंत्री में अभाव प्रतीत किया जा रहा है। राष्ट्रीय नीति और नीति का राष्ट्रीयकरण करने में देश के प्रधानमंत्री के हाथ खाली असफलता लगी है। हो सकता है यह कार्य सिद्धि से प्राप्त परिणाम का ही स्वरूप है। देश के प्रत्येक नागरिक ने प्रधानमंत्री के कथन अनुसार वैशाख माह में दीपावली मनाई और उसके पश्चात थाल-थाली और तस्करी भी खूब बजाई। देश की गरीब जनता ने पीड़ाकारी कष्टों को अपना भाग्य मानकर स्वीकार कर लिया।

परंतु लाखों लोग इस महामारी के परिवेश और शंकाग्रस्त-भयकारी राजनैतिक योजनाओं से त्रस्त है। इतने त्रस्त है कि उनकी पीड़ा का आभास हृदय विदारक है। भारत में कई ऐसी प्रजातियां हैं जिन्हें खानाबदोश कहे तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। ऐसे लोग निर्वाचन प्रणाली से भी मुक्त रहते हैं। लेकिन वह वास्तविक रूप से मूल भारतीय हैं। उनके विषय में वर्तमान सरकार की उदारता इतिहास में कालिख बनकर रहेगी। इतने लंबे समय तक लॉक डाउन से निर्मित व्यवस्था में जीवन यापन, वह भी बिना किसी सरकारी सहायता के, यह अभूतपूर्व है। किंतु शायद अब उनके इस साहस और धीरज दोनों ने ही जवाब दे दिया है। 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान में एक मां का करूण ह्रदय तपती धूप में अपने बच्चे के सूखते गले को, अपने आंसुओं से तृप्त करना चाहती है। भूख और प्यास से बेहाल उस मां के हृदय से लरज़ती हुई आवाज में यह शब्द निकलते हैं। जिन्हें संभवत: मैं जीवन भर नहीं भूल पाऊंगा।

'रे मोदी, तुझे कीड़े पड़ जईयो'। क्या आबादी की कम होने वाली गिनती की शुरुआत, इन्हीं लोगों से होती है?

राधेश्याम 'निर्भयपुत्र'

'लॉक डाउन' में धरना प्रदर्शन, आंदोलन

पटना। कोरोना संकट और लॉकडाउन के दौरान भी बिहार में  राजनीति चरम पर है। प्रदेश  की सभी विपक्षी पार्टियां सरकार पर लगातार हमलावर है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री व आरएलएसपी प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा भी प्रदेश की नीतीश सरकार के खिलाफ लगातार मोर्चा खोले हुए है। उपेन्द्र कुशवाहा लॉकडाउन के दौरान सीएम का पुतला दहन और धरना प्रदर्शन जैसे कार्यक्रम करने  के बाद आज एकबार फिर लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए पटना के वीरचंद पटेल पथ स्थित अपने प्रदेश कार्यालय के बाहर धरना पर बैठे है।अपने   इस धरना को लेकर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा है कि प्रवासी मजदूर जो बिहार आ रहे हैं उन्हें क्वारेंटाइन करने के लिए जो सेंटर बनाए गये है उसकी स्थिति बद से बदत्तर है। क्वारेंटाइन सेंटर पर किसी तरह का कोई इंतजाम नहीं है। उन्होंने कहा कि क्वारेंटाइन सेंटर की स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता  है कि  आए दिन प्रदेश के  किसी न किसी जिले से  क्वारेंटाइन सेंटर पर हंगामे की खबर सामने आ रही है। श्रमिक को अन्य सुविधाएं की बात तो दूर उन्हें समय पर खाना भी नहीं मिल पा रहा है। इसके साथ ही प्रदेश में छात्रों, किसानों और आमजनों का हाल भी बेहाल है। उन्हें किसी प्रकार की कोई सुविधा नहीं मिल पा रही है। अपराध अपने  चरम पर है।  


हमने पहले भी मुख्यमंत्री को इन सभी बातों  को लेकर सुझाव दिया था, लेकिन हमारे सुझाव पर मुख्यमंत्री ने कोई अमल नहीं किया। आरएलएसपी इन मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं। सरकार जबतक हमारी मांगों को पूरा नहीं करती है हमलोग लॉकडाउन का उल्लंघन और कानून को तोड़कर सड़क पर उतरने का यह करते रहेंगे।उन्होंने कहा कि कोरोना संकट से निपटने में सरकार पूरी तरह फेल है। बदइंतजामी के कारण आमजनों का जीना दूभर हो चुका है। हमारे साथी सरकार के विरुद्ध बिहार भर में लॉकडाउन के नियमों को तोड़कर धरना पर बैठे हैं। हमारी मांगें मान लेने तक सिविल नाफ़रमानी आंदोलन जारी रहेगा।


विवाद चलते, युवक को पीट किया घायल

पुराने विवाद के चलते युवक को पीटकर किया घायल

 

सुनील पुरी  

फतेहपुर। पुरानी विवाद के चलते युवक को पीट कर घायल कर दिया गया घायल युवक को लेकर परिजन पुलिस के पास पहुंची पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर मेडिकल के लिए भेजा पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के कंसा खेड़ा गांव में पुराने विवाद के चलते अवध बिहारी उम्र 26 वर्ष को गांव के कुछ लोगों ने पीटकर लहूलुहान कर दिया घायल युवक को लेकर परिजन कोतवाली पहुंचे पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर मेडिकल के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बेतिया पुलिस मारपीट की इस मामले में जांच कर रही है।

गाइडलाइन जारी, टेलरिंग की खुलेंगी दुकानें

प्रयागराज प्रशासन ने जारी किया नई गाइडलाइन अब से जूते-चप्पल, टेलरिंग की भी खुलेंगी दुकानें

 

प्रयागराज। बाजार खोलने की बुधवार से नई गाइडलाइन लागू होगी, जो 31 मई तक चलेगी नई व्यवस्था में प्रशासन ने कई और बाजारों को ट्रायल पर खोलने के साथ अन्य वस्तुओं की दुकानों को भी खोलने की अनुमति दी है। इसमें जूते-चप्पल, टेलरिंग, साइकिल आदि की दुकानें शामिल हैं बड़ी राहत देते हुए प्रशासन ने सभी तरह के फेरी और पटरी दुकानदारों को भी अनुमति दी है। दुकानें सुबह 7 से शाम 6 बजे तक ही खुलेंगी लाकडाउन-4 के अंतर्गत पहले सप्ताह में लागू व्यवस्था की अवधि शनिवार को ही खत्म हो गई थी, लेकिन त्योहार को देखते हुए मंगलवार तक के लिए इसे आगे बढ़ा दिया गया था अब बुधवार से बाजार खोलने की नई व्यवस्था लागू होगी एडीएम सिटी अशोक कुमार कनौजिया की अध्यक्षता में व्यापारियों के साथ हुई बैठक के बाद नई गाइडलाइन मंगलवार देर रात जारी कर दी गई इसके तहत पूरे जिले में सभी दिन खुलने वाली दुकानों की सूची बढ़ा दी गई है सिविल लाइंस,कटरा, सुलेमसराय के अलावा कई अन्य बाजारों को भी ट्रायल के तौर पर खोलने का निर्णय लिया गया है 31 मई के बाद लाकडाउन को लेकर केंद्र और राज्य सरकार की ओेर से नए सिरे से निर्णय लिया जाएगा उसी के अनुसार आगे भी व्यवस्था लागू की जाएगी

एडीएम सिटी ने बताया कि वर्तमान में खुलने वाली दुकानों की समीक्षा के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया गया है समिति की रिपोर्ट के आधार पर बाजार खोलने पर आगे निर्णय लिया जाएगा बैठक में सतीश चंद्र केसरवानी, संतोष पनामा, विजय अरोरा, विजय वैश्य,कुलदीप सोनी, सोहैल अहमद, सुशील खरबंदा,योगेश गोयल,मोहम्मद कादिर, शिवशंकर सिंह, विपुल मित्तल,रमेश केसरवानी,महेंद्र गोयल आदि मौजूद रहे।

पूरे जिले में प्रतिदिन खुलने वाली दुकानें (साप्ताहिक बंदी छोड़कर)

 

(1) हार्डवेयर-पेंट, लोहे की दुकान-सरिया- एंगेल आदि, सेनेटरी वेयर, इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रानिक्स उत्पाद,आटोमोबाइल,आटो पार्ट्स, टायर ट्यूब, फल,सब्जी,दूध, मेडिकल स्टोर, किराना स्टोर, आटो गैरेज (रिपेयरिंग कार्य गैरेज के अंदर किया जाएगा), टिंबर स्टोर, चश्मे की दुकान,बुक,स्टेशनरी एवं मोहर, फर्नीचर, प्लाईबोर्ड, माइका, ज्वेलरी, कास्मेटिक जनरल स्टोर, फोटो स्टेट, फोटो स्टूडियो, ग्लास, एल्युनियम फ्रेम, हाउसिंग मैटेरियल, जूते-चप्पल,टेलरिंग,फेरीवाले,पटरी की दुकानें सभी प्रकार की,साइकिल दुकान (संपूर्ण रूप से)

ट्रायल के तौर पर खुलेंगी दुकानें

खुल्दाबाद, रोशनबाग,नखास कोहना,बड़ी स्टेशन मार्केट, शाहगंज बाजार, राजापुर, चौक, खोवा मंडी, बहादुरगंज, चक जीरो रोड, राम भवन, तेलियरगंज, गोविंदपुर को छोड़ते हुए शहर एवं ग्रामीण तथा नगर पंचायत क्षेत्र की दुकानें रोस्टर के तहत खोली जाएंगी रोस्टर के तहत सोमवार, बुधवार, शुक्रवार को संबंधित क्षेत्रों में मोबाइल, बर्तन एवं क्राकरी, प्रिंटिंग प्रेस एवं ड्राई क्लीनर्स, खेल एवं गिफ्ट आइटम की दुकानें खुलेंगी वहीं मंगलवार, बृहस्पतिवार एवं शनिवार को कंप्यूटर एवं आईटी प्रोडक्ट्स, रेडीमेड गारमेंट्स (ट्रायल और एक्सचेंज की सुविधा नहीं होगी), वस्त्रालय एवं साड़ी की दुकानों को खोलने की अनुमति दी गई है

खुलेंगे रेस्टोरेंट, सिर्फ होम डिलेवरी

 

(2) पूरे जिले में रेस्टोरेंट-किचेन की दुकानें रोजाना खुलेंगी,लेकिन वहां बैठकर खाना या नाश्ता नहीं किया जा सकेगा सिर्फ होम डिलेवरी की सुविधा होगी मिठाई की दुकानें भी खुलेंगी,लेकिन सिर्फ खरीदारी की सुविधा होगी* बस डिपो, रेलवे स्टेशन और हवाई अड्डों पर संचालित कैंटीन आदि भी खुलेंगी, लेकिन सिर्फ होम डिलेवरी की अनुमति होगी

इन पर प्रतिबंध

 

(3)-सैलून, स्पा, ब्यूटी पार्लर, मसाज सेंटर की दुकानों को खोलने की अनुमति नहीं दी गई है। स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिस एवं सरकारी अधिकारियों के लिए उपयोग में लाई जाने वाली या लाकडाउन में फंसे पर्यटकों एवं क्वारंटीन करने के उपयोग में आने वाली सर्विसेज को छोड़कर अन्य सत्कार सेवाएं (हॉस्पिटैलिटी सर्विसेज) भी प्रतिबंधित रहेंगी सिनेमा हाल, शापिंग मॉल, जिम, तरणताल, मनोरंजन पार्क,थियेटर,बार, सभागार, एसेंबली हाल तथा इस तरह के अन्य स्थान की गतिविधियां भी स्थगित रहेंगी।

रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी

मंत्री-विधायकों का होटल में ठहरना

राज्यमंत्री समेत 15 विधायकों का होस्टल में ठहरने का मामला,

अमित शर्मा

चंडीगढ़। हरियाणा एमएलए हॉस्टल में नियमों की अवहेलना कर कमरों का इस्तेमाल कर रहे विधायकों से अब 50 फीसदी किराया वसूल किया जाएगा। जिसमें एक राज्यमंत्री समेत 15 विधायक शामिल हैं। इनका 50 फीसदी किराया इनका माफ कर दिया है।

हरियाणा विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने विधायकों द्वारा तीन दिन से ज्यादा हॉस्टल के कमरे ठहरने पर प्रति दिन 700 रुपए के हिसाब से किराया बताकर इन सभी को नोटिस भेजे थे। मामले का खुलासा तब हुआ जब स्पीकर ने एमएलए हॉस्टल का पूरा रिकॉर्ड मांगा। रिकॉर्ड में देखा गया कि कई एमएलए के नाम 15-15 दिन से एमएलए हॉस्टल के कमरें बुक हैं, जबकि एमएलए को तीन दिन से ज्यादा निर्धारित दर पर कमरे नहीं दिए जा सकते।

फूटा मजदूरों का गुस्सा, दर्ज किया विरोध

मजदूरी ना मिलने पर श्रमिकों का फूटा गुस्सा, काम बंद कर दर्ज कराया अपना विरोध
झांसी। झांसी जनपद के थाना बड़ागांव अंतर्गत ग्राम मडोरा में स्थित हैडलबर्ग सीमेंट कंपनी है जहां पर हजारों की संख्या में मजदूर कार्य करते हैं वही सभी लोगों को ज्ञात है की कोरोना काल में माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा कहा गया किसी भी कंपनी द्वारा लॉकडाउन के समय का वेतन नहीं काटा जाएगा फिर भी इसके विपरीत डायमंड सीमेंट फैक्ट्री द्वारा उन मजदूरों को वेतन नहीं दिया गया इससे आक्रोशित होकर मजदूरों ने आज काम बंद कर दिया तथा नारेबाजी करने लगे। जब इस बारे में पत्रकारों ने कंपनी के एचआर से जानकारी चाहिए तो उन्होंने पत्रकारों को ही बिकाऊ बोल दिया तथा कहा कि 90 परसेंट मीडिया तो बिकाऊ होती है जिसका वीडियो वायरल हो चुका है।सूचना पाकर मौके पर सीओ सदर हिमांशु गौरव व थाना अध्यक्ष वीर सिंह अपने फोर्स के साथ मौके पर पहुंचकर मजदूरों को समझाया तथा उन लोगों से कहा गया कि आप लोग शांत रहें समाचार मिलने तक कंपनी के एचआर द्वारा सभी मजदूरों की मांग 15 जून तक पूरी करने का आश्वासन दिया गया है।
 विवेक राजोरिया केेे साथ मुकेश कुमार झा की रिपोर्ट


उत्तराखंड में संक्रमितो की संख्या -438

देहरादून। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर उत्तराखंड में आज भी राहत वाली खबर नहीं है। उत्तराखंड के जनपद देहरादून 03, जनपद हरिद्वार में 06, जनपद पौड़ी गढ़वाल में 13 एवं जनपद टिहरी गढ़वाल में 16 कोरोना के मामले सामने आये है। जिसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमित लोगो की संख्या 438 हो गयी है।


स्वास्थ्य विभाग से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार उत्तरखंड राज्य में 38 लोग कोरोना संक्रमित मिले है। जिसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमित लोगो की संख्या 438 हो गयी है। आपको बताते चले कि अभी तक 79 कोरोना संक्रमित लोग उत्तराखंड राज्य में ठीक हो चुके है।


छत्तीसगढ़ में 1,86000 लोग क्वॉरेंटाइन

रायपुर। छत्तीसगढ़ में 01 लाख 86 से अधिक लोग क्वारंटाइन सेंटरों में रखे गये है, वहीं 48141 लोग होम क्वारंटाइन में है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा 26 मई की शाम को जारी बुलेटिन में इसकी जानकारी दी गई है।


स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ में अब तक कुल 19067 क्वारंटाइन सेंटर बनाये गये है, जिसकी क्षमता 700054 है। कल शाम तक की स्थिति में प्रदेशभर में बनाए गए इन सेंटरों में कुल 01 लाख 86 हजार 566 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। इसी प्रकार 48141 लोगों को होम क्वारंटाइन में रखा गया है। विभाग के अनुसार राज्य में अब तक 57479 संभावित लोगों की पहचान कर उनका सेंपल जांच किया गया है, जिनमें 55539 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है, जबकि 1580 लोगों की जांच जारी है। इसी प्रकार आई.आर.एल रायपुर में अब तक कुल 3826 सैंपल की स्क्रीनिंग की गई है।


थाने में वायरस 10 पुलिसकर्मी संक्रमित

नई दिल्ली। देश की राजधानी में कोरोना के मामलों में अब तक का सबसे बड़ा उछाल आया है। दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 15 हजार पार पहुच गई है। राजधानी में कोरोना के मामले बढ़कर 15257 हो गए। पिछले 24 घंटों में 792 नए मामले सामने आए. ये 24 घंटे में अब तक की सबसे बड़ी संख्या है। दिल्ली में कुल मौत 303 लोगों की कोरोना की वजह से मौत हो चुकी है। वहीं दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 310 मरीज ठीक भी हुए हैं। ठीक होने वाले मरीजों की संख्या अब 7264 हो गई है। फिलहाल दिल्ली में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 7690 है।


मालवीय नगर थाने में पहुंचा कोरोना
दिल्ली पुलिस में कोरोना संक्रमण का मामला अब थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक 250 से ज्यादा पुलिसकर्मी इसकी चपेट में आ चुके हैं। हाल ही में पता चला है कि अब कोरोना दक्षिणी दिल्ली के मालवीय नगर थाने में पहुंच गया है। यहां 10-11 पुलिसकर्मी संक्रमित पाये जाने से हड़कंप मचा हुआ है।


दिल्ली में चांदनी महल थाने के बाद मालवीय नगर दूसरा ऐसा थाना है जहां 10-11 पुलिसकर्मी एक साथ कोरोना संक्रमित निकले हैं। हांलांकि इससे पहले कोरोना का कोहराम दिल्ली पुलिस की अशोक विहार पुलिस कालोनी में भी मच चुका है। यहां अभी भी तमाम कोरोना संक्रमित होम क्वारंटीन हुए हैं।


देश में कोरोना मामलों की संख्या 1,51,767 पहुंची
देश भर में कोरोना पीड़ितों की संख्या 1 लाख 51 हजार 767 हो गई है, जिसमें 83 हजार लोग अभी भी कोरोना पॉजिटिव हैं। इधर बुधवार तक देश भर में कोरोना वायरस से 64,425 लोग स्वस्थ भी हो गए हैं. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक बुधवार सुबह तक देश में 4,337 लोगों की मौत भी हो चुकी है।


अंडमान निकोबार और मिजोरम में अब तक कोरोना मुक्त राज्य बना हुआ है। जबकि बुधवार सुबह तक महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे अधिक मामले दर्ज किए गये हैं। महाराष्ट्र में अब तक 54,758 लोग कोरोना वायरस से पीड़ित बताये गए हैं, जबकि 16,954 लोग इस वायरस से स्वस्थ हो चुके हैं। यहां 1,792 लोगों की मौत हो चुकी है।


छोटे दुकानदारों को ले डूबा 'लॉक डाउन'

अतुल त्यागी

हापुड़। कोविड-19 महामारी मैं हुए लॉक डाउन के बाद लोगों ने सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन तो जरूर किया। लेकिन वही दुकानदारों का काफी नुकसान होता नजर आ रहा है।

दुकानदार सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए नजर आ रहे हैं लेकिन कोरोना वायरस से बचने के लिए दुकानदार अपनी दुकानें बंद कर घरों में कैद हैं लेकिन जब अपनी दुकानों की सफाई करने के लिए दुकानदार अपनी दुकानों पर पहुंचे तो दुकानदारों का काफी नुकसान देखने को मिला। दुकान बंद रहने की वजह से बर्तन की दुकान मैं लगे लकड़ी के फर्नीचर में दीमक लग गई वहीं दूसरी तरफ जूते चप्पल की दुकानों में चूहों ने काफी नुकसान कर दिया इतना ही नहीं दुकान बंद रहने की वजह से चूहों ने दुकान में जबरजस्त तांडव मचाया जूतों के डब्बे तो काट ही दिए लेकिन जूतों को भी नहीं बख्शा जूते भी काट डाले।

 

 वहीं तीसरी तरफ हलवाईयों की दुकान बंद होने से काफी मात्रा में मावा रसगुल्ले बर्फी सहित कई प्रकार के मीठे भी दुकान बंद रहने की वजह से खराब हो गए। दुकानदारों ने बताया हम सरकार के दिए गए निर्देशों का पूरा पालन कर रहे हैं। लेकिन हमारी दुकान बंद होने की वजह से लाखों का नुकसान होता दिखाई दे रहा है। फिलहाल दुकानदार चिंतित होते हुए नजर आ रहे हैं पिलखुवा गांधी बाजार का मामला।

पुलिस विभाग के कई अधिकारी इधर-उधर

अश्वनी उपाध्याय

 गाजियाबाद। जनपद गाजियाबाद में पुलिस विभाग के द्वारा कई अधिकारी और कर्मचारियों के तबादले कर दिए गए हैं। अकेले जनपद गाजियाबाद में  पुलिस महानिदेशक के द्वारा एक एएसपी समेत 4 डीएसपी के तबादले कर दिए गए हैं।

ट्रेनिंग से वापस लौटे आईपीएस केशव कुमार को एएसपी साहिबाबाद का चार्ज दिया गया है। राकेश कुमार मिश्रा को सीओ फर्स्ट बनाया गया है। धर्मेंद्र सिंह चौहान को सीओ सदर बनाया गया । प्रभात कुमार को सीओ मोदीनगर का प्रभार दिया गया है। सीओ मोदीनगर रहे महिपाल सिंह सीओ कार्यालय बनाए गए हैं।

छत्तीसगढ़ में वायरस ने पकड़ी रफ्तार

रायपुर। कोरोना की रफ्तार पिछले एक सप्ताह से बहुत तेज हो गयी है। प्रदेश में कुल संक्रमितों का आंकड़ा अब जहां 360 पहुंच गया है, तो वहीं एक्टिव केस की संख्या प्रदेश में बढकर अब 281 पहुंच गयी है। दुर्ग संभाग में सबसे ज्यादा मरीजों की संख्या राजनांदगांव में है। आज भी राजनांदगांव में 12 नये केस सामने आये।


आज दोपहर आयी इन 12 सैंपल की रिपोर्ट में तीन महिलाएं ऐसी है, जो कोरोना मरीज के संक्रमण में आने की वजह से संक्रमित हुई। दरअसल कुछ दिन पहले राजनांदगांव के डिप्टी कलेक्टर का ड्राइवर कोरोना पॉजेटिव मिला था, आज ड्राइवर के परिवार को फर्स्ट कांटेक्ट में आये लोगों की रिपोर्ट आयी, जिनमें ड्राइवर की पत्नी, उसकी बेटी और उसकी पडोसन भी कोरोना पॉजेटिव पायी गयी है। इन सभी को राजनांदगांव के कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आपको बता दें कि इससे पहले 21 मई को डिप्टी कलेक्टर के ड्राइवर की कोरोना रिपोर्ट पॉजेटिव आयी थी। हालांकि इसके बाद कई अधिकारियों की सैंपल टेस्ट करायी गयी, हालांकि टेस्ट में डिप्टी कलेक्टर की RTPCR रिपोर्ट निगेटिव आयी थी।


शेल्टर होम, खाने की गुणवत्ता की जांच

मीरगंज, बरेली। जिलाधिकारी व बरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मंगलवार को मीरगंज तहसील में बने कम्युनिटी किचन, शेल्टर होम व रामपुर बॉर्डर का निरीक्षण किया। प्रवासियों के लिए कम्युनिटी किचन में भोजन की गुणवत्ता भी जांची। बार्डर पर तैनात अधीनस्थों को निर्देश दिया कि कोई भी प्रवासी पैदल व ट्रक से न जाने पाए। उनके लिए सरकारी बस की सुविधा दी जाएगी। डीएम नितीश कुमार एवं एसएसपी शैलेश कृष्ण पांडे फोर्स के साथ मीरगंज तहसील में चल रहे कम्युनिटी किचेन का स्थलीय निरीक्षण कर वहां की व्यस्थाओं की जानकारी ली। जिलाधिकारी ने कहा कि भोजन की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाए। साथ ही यह भी सुनिश्चित करना है कि भोजन पात्र व्यक्तियों तक अवश्य पहुंचे। उसके बाद मीरगंज का हॉटस्पॉट खानपुरा का भी निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने ड्यूटी पर तैनात पुलिस व अन्य कर्मचारियों को निर्देश दिए कि लॉकडाउन को प्रत्येक दशा में सख्ती से लागू किया जाए। किसी भी व्यक्ति को अनावश्यक रूप से घर से बाहर न निकलने दिया जाए। फिर मीरगंज क्षेत्र में बने शेल्टर होम पूरन रिसोर्ट, स्वामी दयानंद डिग्री कॉलेज, आरएमएस एकेडमी, हरुनगला में बने शेल्टर होम का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान डीएम ने सख्त निर्देश कि बार्डर से कोई भी प्रवासी मजदूर ट्रक के माध्यम से अथवा पैदल आ रहे प्रवासी मजदूरों को शेल्टर होम तक लाया जाए। शेल्टर होम में आवश्यक सुविधाओं को उनकी गुणवत्ता के साथ बनाए रखें। उसके बाद मीरगंज में बरेली रामपुर सीमा पहुंचकर वहां की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया तैनात पुलिसकर्मियों से प्रवासी मजदूरों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिए कि किसी भी दशा में अनावश्यक आवागमन ना होने दिया जाए। लॉक डाउन को प्रत्येक दशा में लागू किया जाए। इस मौके पर एसडीएम मीरगंज राजेश चंद्र, तहसीलदार, नायव तहसीलदार लक्की सिंह व तहसील के कर्मचारी सहित थाना प्रभारी मीरगंज आदि लोग मौजूद रहे।


बरेली से कपिल यादव


फ्लाइट में मिला संक्रमित, यात्री क्वॉरेंटाइन

नई दिल्ली। जो लोग सोमवार से शुरू हुई हवाई उड़ान सेवा का इस्तेमाल कर रहे हैं उनके लिए एक बड़ी खबर सामने आई है। एयर इंडिया की फ्लाइट से यात्रा कर रहा एक यात्री कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। दिल्ली से लुधियाना (AI9I837) जाने वाली इस फ्लाइट के अन्य यात्रियों को क्वारंटाइन कर दिया गया है। सभी से 14 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में रहने को कहा गया है।


संक्रमित शख्स अलायंस एयर में सिक्योरिटी डिपार्टमेंट में काम करता था और बतौर यात्री इस उड़ान में सफर कर रहा था। एयर इंडिया ने बताया, “कोरोना पॉजिटिव मिला यात्री अलायंस एयर के सिक्योरिटी डिपार्टमेंट में काम करता है। यात्री पेड टिकट पर हवाई यात्रा कर रहा था। अब इस फ्लाइट के सभी यात्री राज्य के नियमों के तहत क्वारंटाइन में हैं।”


बता दें कि इससे पहले इंडिगो ने कहा था कि उसने सोमवार को चेन्नई-कोयंबटूर उड़ान का परिचालन करने वाले चालक दल के सदस्‍यों को उड़ान ड्यूटी से हटा दिया है। इस उड़ान में एक यात्री कोविड-19 से संक्रमित पाया गया था, जिसके बाद कंपनी ने यह कदम उठाया है। सोमवार से घरेलू विमान सेवा शुरू होने के बाद संभवत: यह पहला हवाई यात्री है जो कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। इंडिगो ने अपने एक बयान में कहा कि 25 मई को चेन्‍नई से कोयम्‍बूटर जाने वाली उड़ान संख्‍या 6ई 381 में यात्रा करने वाला एक यात्री 25 मई की शाम को कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया। वर्तमान में वह कोयम्‍बूटर के ईएसआई अस्‍पताल में क्‍वॉरन्‍टीन है।


रेल की पटरियों पर सोए, 4 के शव मिले

चंदौली। उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले में प्रवासी मजदूरों के साथ एक दुखद घटना की पुनरावृत्ति हुई है। अभावग्रस्त मजदूर ट्रेन की पटरीयो के रास्ते अपने गांव जाने के लिए ज्यादातर रेल लाइनों पर यात्रा कर रहे हैं। जिसके परिणाम स्वरूप सप्ताह पूर्व ट्रेन की चपेट में आने से कई प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई थी। उसी घटना की पुनरावृति चंदौली जिले में देखने को मिली है। ट्रेन की पटरी पर चार लोगों के शव बरामद हुए हैं। इनमें तीन महिलाएं और एक परुष है। ये लोग पटरी पर सो गए थे जिनके ऊपर से ट्रेन गुजर गई। चंदौली के ASP प्रेम चंद ने इस हादसे की पुष्टि की है।



ASP प्रेम चंद ने कहा, “पटरी पर चार शव मिले हैं जिसमें तीन महिलाएं और एक पुरुष है। शवों को शवगृह भेजा गया है। उनके पास से किसी तरह का कोई सामान नहीं मिला है। रेल के ड्राइवर ने सूचना दी थी कि ट्रेन की पटरी पर कुछ लोग सोए हुए थे जिनके ऊपर से ट्रेन गुजर गई है, शिनाख्त जारी है।”



व्हाट्सएप से रसोई गैस सिलेंडर बुकिंग

नई दिल्ली। भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) के ग्राहकों के लिए एक खुशखबरी है। बीपीसीएल ने एक नई सुविधा की शुरुआत की है। इसके तहत अब बीपीसीएल के ग्राहक व्हाट्सऐप के जरिए रसोई गैस बुकिंग कर सकेंगे। बीपीसीएल ने एक बयान में कहा, ‘‘ भारत गैस (बीपीसीएल का एलपीजी ब्रांड नाम) के देशभर में स्थित ग्राहक कहीं से भी व्हाट्सऐप के जरिये खाना पकाने का गैस सिलेंडर बुक करवा सकते हैं।’’ व्‍हाट्सऐप पर यह बुकिंग बीपीसीएल स्मार्टलाइन नंबर 1800224344 पर की जा सकेगी। ग्राहक को अपने रजिस्‍टर्ड मोबाइल नंबर (Registered mobile number) से बुकिंग करनी होगी। बीपीसीएल के अधिकारी अरुण सिंह ने कहा, ‘‘इसके जरिये एलपीजी बुकिंग करने के इस प्रावधान से ग्राहकों को और आसानी होगी। व्हाट्सऐप अब आम लोगों के बीच काफी सामान्य हो चला है। चाहे युवा हो या फिर बुजुर्ग सभी इसका इस्तेमाल करते हैं और इस नई शुरुआत से हम अपने ग्राहकों के और करीब पहुंचेंगे।’’


डेबिट-क्रेडिट कार्ड से पेमेंट का भी मिलेगा विकल्‍प


कंपनी के कार्यकारी निदेशक, एलपीजी के प्रभारी टी। पीतांबरम ने कहा कि व्‍हाट्सऐप (WhatsApp) के जरिये बुकिंग करने के बाद ग्राहक को बुकिंग होने का मैसेज मिलेगा। इसके साथ ही एक लिंक भी उसे प्राप्त होगा, जिस पर वह डेबिट अथवा क्रेडिट कार्ड, यूपीआई और अमेजन जैसे अन्य ऐप के जरिये भुगतान भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि कंपनी इसके साथ ही एलपीजी डिलिवरी पर नजर रखने और ग्राहकों से उसके बारे में उनकी प्रतिक्रिया लेने जैसे नये कदमों पर भी गौर कर रही है। आने वाले दिनों में कंपनी ग्राहकों को सुरक्षा जागरुकता के साथ ही और सुविधायें भी देगी।


दिल्ली, चंडीगढ़ में भी मिलेगी 'रेड वाइन'

मंडी। कल्पा व नासिक के काले अंगूर से तैयार रेडवाइन अब हिमाचल के अलावा देश की राजधानी दिल्ली, चंडीगढ़ व पंजाब के कई शहरों में मिलेगी। रेडवाइन कई जानलेवा रोग जैसे कैंसर, मधुमेह पेट की बीमारियों से बचाती है। मेटाबॉलिज्म का स्तर सही रखती है। प्रदेश विपणन एवं प्रसंस्करण निगम (एचपीएमसी) ने रेडवाइन की मांग को देखते हुए इसे अन्य राज्यों में लांच करने का निर्णय लिया है। लाइसेंस के लिए आवेदन कर दिया है।


एचपीएमसी ने पिछले साल ट्रायल के तौर पर करीब 5000 बोतल रेडवाइन बनाई थी। शिमला, मनाली, परवाणू, नाहन, धर्मशाला आदि स्थानों पर उपलब्ध करवाई थी। दिल्ली, चंडीगढ़, पंजाब सहित कई अन्य राज्यों के पर्यटकों ने रेडवाइन को खूब सराहा था। इस बार करीब पांच गुना मांग आई है। एचपीएमसी ने वाइन तैयार कर कोल्ड स्टोर में रखी थी। कोरोना के चलते बॉटलिंग का काम थम गया था। अब एचपीएमसी ने बॉटलिंग व लेवलिंग का काम शुरू कर दिया है। काले अंगूर से तैयार रेडवाइन पाचन तंत्र की मजबूती के साथ कोलेस्ट्रल को नियंत्रित करती है। यह खून से शर्करा के स्तर को कम करती है। शरीर में मेटाबॉलिज्म का स्तर सही रहता है। रेडवाइन में मौजूद रेस्वेराट्रोल शरीर में वसा कोशिकाओं को बढऩे से रोकता है। इससे मोटापा कम हो जाता है। रेडवाइन बनाने के लिए एचपीएमसी ने किन्नौर जिले के कल्पा से चार व महाराष्ट्र के नासिक से 20 मीट्रिक टन काला अंगूर खरीदा था। इसकी एक बोतल मार्केट में 500 रुपये में मिलेगी। यह एक तरह का पेय पदार्थ है जो काले अंगूर से बनाया जाता है। इसमें विटामिन बी, आयरन, मैग्नीशियम इत्यादि जरूरी तत्व शामिल होते हैं। बड़ी बात यह है इसमें कोई शुगर नहीं मिलाई है।


जल्द ही रेडवाइन दिल्ली, चंडीगढ़ व पंजाब में भी उपलब्ध करवाई जाएगी


एचपीएमसी ने पिछले साल पहली बार काले अंगूर से रेडवाइन बनाई थी। मार्केट में इसका अच्छा रिस्पांस आया है। इस बार मांग पांच गुना बढ़ी है। जल्द ही रेडवाइन दिल्ली, चंडीगढ़ व पंजाब में भी उपलब्ध करवाई जाएगी। -हरीश वर्मा, प्रबंधक एचपीएमसी फ्रूट प्रोसेसिंग यूनिट जड़ोल।


सिपाही की ट्रेन से कटकर मौत, कोहराम

आगराः यातायात पुलिस के सिपाही की ट्रेन से कटकर मौत, परिवार में मचा कोहराम

 

आगरा। फोर्ट रेलवे लाइन पर यातायात पुलिस के हेड कांस्टेबल अशोक कुमार (48 वर्ष) की बुधवार सुबह ट्रेन की चपेट में आने से मौत हो गई। उनकी बिजली घर चौराहे पर ड्यूटी थी। घटना की जानकारी पर एसएसपी बबलू कुमार सहित पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई। घटना के कारणों की जांच की जा रही है।मूल रूप से मैनपुरी निवासी अशोक कुमार 1997 बैच के सिपाही थे। वह यातायात पुलिस लाइन में परिवार सहित रहते थे। एक सप्ताह से उनकी ड्यूटी बिजली घर चौराहा पर लग रही थी। जानकारी के मुताबिक, सुबह 6:00 बजे ड्यूटी पर पहुंचे। साथी सिपाई जितेंद्र पाल के साथ कुछ देर ड्यूटी की।

 

इसके बाद किसी काम से जाने की कहकर चले गए। कुछ देर बाद उनका शव काजीपाड़ा मंटोला के बीच रेलवे लाइन पर पड़ा मिला।जानकारी पर एसएसपी, एसपी सिटी सहित यातायात पुलिस निरीक्षक पहुंच गए। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। सूचना पर परिवारीजन भी आ गए। परिवार में कोहराम मच गया। 

सिपाही के दो बेटे और एक बेटी हैं। सभी पुलिस लाइन में रहते हैं। छोटा बेटा कपिल जालौन में सिपाई है। बड़ा बेटा राहुल सिपाही में भर्ती हो चुका है। ट्रेनिंग में जाने वाला है।

25 मई को छुट्टी के बाद आए थे ड्यूटी

बताया गया है कि अशोक कुमार ने तीन दिन की छुट्टी ली थी। 21 से 24 मई तक छुट्टी पर रहे। 25 मई को ही वह ड्यूटी पर लौट कर आए थे। आज यह हादसा हो गया

80 साल के रिकॉर्ड पर आई बेरोजगारी


  • अमेरिका में कोरोना संकट के कारण 3.86 करोड़ लोग बेरोजगारी भत्ते के लिए रजिस्ट्रेशन करा चुके

  • नॉर्वे में अस्थायी कर्मियों को 3.82 लाख रु का भत्ता, जबकि स्पेन में सभी कर्मचारियों को पूरा वेतन दिया जा रहा


वॉशिंगटन। कोरोना संकट की वजह से अमेरिका में बेरोजगारी दर 80 साल के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। करीब 3.86 करोड़ लोग बेरोजगारी भत्ते के लिए रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। लोगों को जितनी सैलरी मिलती थी, उससे डेढ़ गुना ज्यादा भत्ता मिल रहा है। इससे बेरोजगारी भत्ता और बेरोजगारी बीमा जैसी सरकार की योजनाओं पर दबाव बढ़ गया है।


सैलरी से ज्याद भत्ता


अमेरिकी श्रम विभाग के मुताबिक सरकार बेरोजगारों को 45 हजार रुपए भत्ता दे रही है, जबकि ज्यादातर लोगों की औसत मासिक सैलरी करीब 30 हजार रुपए है। ज्यादा पैसा मिलने से अब लोग काम ही नहीं करना चाहते। ऐसे में सरकार ने कंपनियों से उन कर्मचारियों की रिपोर्ट मांगी है, जो बुलाने के बावजूद नौकरी पर नहीं आ रहे हैं। दरअसल, बेरोजगारी बीमा का उद्देश्य नौकरी से हुए नुकसान की भरपाई करना है, जब तक कि नया काम नहीं मिल जाता।


अमेरिका में बेरोजगारी दर 15 फीसदी के करीब 


अमेरिका में बेरोजगारी दर कोरोना संकट के बाद 14.7% पर पहुंच गई। ये बेहद ज्यादा है। अमेरिका में कोरोना के अब तक 17,06,277 मामले आए हैं। 1 लाख से ज्यादा मौतें हुई हैं। 


दुनिया: नॉर्वे 3.82 लाख, कनाडा 1 लाख तक दे रहा



  • नॉर्वे: अस्थायी कर्मियों को 3.82 लाख रु का भत्ता। यहां 8,374 मामले आए हैं। 235 मौतें हुई हैं।

  • स्पेन: सभी कर्मियों को पूरा वेतन और अस्थायी कामगारों को भत्ता देने का आदेश। यहां 2,82,480 केस आए हैं। 26,837 मौतें हुई।

  • फ्रांस: कर्मियों को सैलरी का 84% भत्ता, आम मजदूरों को 100% भत्ता देने का नियम है। यहां 1,82,942 केस आए हैं। 28,432 मौतें हुई हैं।

  • कनाडा: लॉकडाउन में बेरोजगार हुए लोगों को सरकार हर माह 1,09,500 रु. भत्ता दे रही है। यहां 85,998 मामले आए हैं। 6,566 मौतें हुई हैं।

  • ब्रिटेन: कंपनियां 2.33 लाख रु. से कम मासिक वेतन वाले कर्मियों को भुगतान के लिए 80% सरकारी फंड उपयोग कर सकती है। यहां 2,61,184 केस हैं। 36,914 मौतें हुई हैं।

  • ग्रीस: कर्मियों को 66,324 रु. मासिक भत्ता दे रहे हैं। यहां 2,892 मामले आए हैं। 173 मौतें हुई हैं।

  • जापान: सरकार ने सभी नागरिकों को 70,120 रु. दिए। जापान में 16,581 मामले आए हैं। 830 मौतें हुई हैं।


न्यूजीलैंड: जॉब खोने वालों को हर हफ्ते 17360 रु. भत्ता
न्यूजीलैंड में प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न ने मंगलवार को उन लोगों को हफ्ते में 17,360 रुपए भत्ता देने की घोषणा की है, जो लॉकडाउन के कारण रोजगार खो चुके हैं। सरकार ने 29 मई से लॉकडाउन में और अधिक ढील देने का फैसला किया है। इसके तहत अधिकतम 100 लोग एक जगह जुट सकेंगे। अभी तक 10 लोगों को ही इसकी अनुमति थी। जेसिंडा ने कहा कि ये बदलाव कारोबार के लिए अच्छे साबित होंगे।


न्यूजीलैंड में कोरोना के 22 एक्टिव मरीज


सरकार ने बेरोजगारी दर 10 फीसदी से नीचे रखने के लिए ज्यादा पैसा अर्थव्यवस्था पर खर्च करने की योजना बनाई है। न्यूजीलैंड में कोरोना के सिर्फ 22 एक्विट मरीज हैं। इनमें से सिर्फ एक ही अस्पताल में हैं। बाकी गंभीर नहीं होने के कारण घर में हैं। यहां अब तक 1504 मामले आए हैं। 21 मौतें हुई हैं।


दिल्ली में फंसे छात्रों ने लगाए गभींर आरोप

नई दिल्ली। दिल्ली में फंसे छात्रों ने आरोप लगाया कि कॉलेज प्रशासन जान-बूझकर छात्रों की सुरक्षा और जान को खतरे में डालने की कोशिश कर रहा है। उन्हें ऐसे कठिन समय में हॉस्टल छोड़ने के लिए कह रहा है। दूसरी ओर, छात्र किराया चुकाने की चुनौती का भी सामना कर रहे हैं।


छात्रों ने आरोप लगा कि मकान मालिक उन्हें लॉकडाउन के दौरान के वक्त का किराये का भुगतान करने के लिए कह रहा है। इसी कड़ी में JNU ने सर्कुलर जारी करते हुए कहा गया था कि कैंपस के हॉस्टल में फंसे हुए सभी छात्रों को हॉस्टल छोड़ने और 25 जून को शैक्षणिक गतिविधि शुरू होने पर लौटने की सलाह दी जाती है। लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को ही नहीं छात्रों को भी कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि लॉकडाउन से पहले कॉलेजों और स्कूलों को बंद कर दिया गया था और कई छात्र अपने गृहनगर के लिए रवाना हो गए थे। लेकिन कुछ इस सोच के साथ वापस आ गए कि लॉकडाउन लंबे समय तक नहीं रहेगा। अब जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के फंसे हुए छात्रों को डीन द्वारा एक सर्कुलर के जरिए हॉस्टल खाली करने की सलाह दी गई है और शैक्षणिक गतिविधि फिर से शुरू होने पर 25 जून को वापस आने को कहा गया है। सर्कुलर में आगे कहा गया है कि चूंकि ट्रेन और फ्लाइट का संचालन शुरू हो चुका है, इसलिए छात्रों को कैंपस छोड़ने में कोई परेशानी नहीं होोगा। लॉकडाउन के दौरान हॉस्टल में रहने वाले JNU के छात्रों ने इस सर्कुलर का विरोध जताया है। कुछ छात्रों के अनुसार ये सब जीवन और सुरक्षा को खतरे में डाल सकता है. ..in से बातचीत में एक छात्र ने कहा कि हम अपने हॉस्टल में सुरक्षित महसूस करते हैं। लॉकडाउन के दौरान हमें दरबदर करना कहां की बुद्ध‍िमानी है।


छात्र दीपक जन्नू विद्यार्थी ने कहा कि यात्रा में लोग तमाम तरह के जोख‍िम उठा रहे हैं। कई ट्रेनें कहीं के बजाय कहीं पहुंच गई। जब कैंपस 25 जून को फिर से खुल रहे हैं तो महीने में दो बार यात्रा क्यों करनी चाहिए। JNU के अलावा शहर के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले छात्रों को भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।


दिल्ली सरकार ने एक सर्कुलर में छात्र या प्रवासी मजदूरों के मकान मालिकों से किरायेदार से किराया नहीं मांगने का आग्रह किया था। सर्कुलर की अवधि एक महीना थी जो पिछले महीने के ही समाप्त हो गई थी। अब कई मकान मालिकों ने छात्रों से फिर से पूछना शुरू कर दिया है। मकान मालिकों ने धमकी भी दी है कि अगर उन्हें किराया नहीं मिला तो उन्हें पीजी या फ्लैट से बाहर निकाल दिया जाएगा। 


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मई 28, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-289 (साल-01)
2. बृहस्पतिवार, मई 28, 2020
3. शक-1943, ज्येठ, शुक्ल-पक्ष, तिथि- पंचमी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:39,सूर्यास्त 07:18।


5. न्‍यूनतम तापमान 24+ डी.सै.,अधिकतम-41+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)


जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से घबराया 'चीन'

बीजिंग। जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से चीन घबरा गया है। यही वजह है कि जी-7 देशों की बैठक के तुरंत बाद चीन ने जिनपिंग के ड्रीम प्रोजे...