गुरुवार, 17 नवंबर 2022

प्रथम सेमेस्टर सत्र 2022 के परिणाम घोषित: बीएससी 

प्रथम सेमेस्टर सत्र 2022 के परिणाम घोषित: बीएससी 


बी.एस.सी. नर्सिंग प्रथम सेमेस्टर परीक्षा परिणाम उत्कृष्ट

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। अपोलो कॉलेज ऑफ नर्सिंग, अंजोरा, दुर्ग में संचालित तथा पं. दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय द्वारा संबद्धता प्राप्त बी.एस.सी. नर्सिंग पाठ्यक्रम प्रथम सेमेस्टर सत्र 2022 के परिणाम घोषित किए गए। जिसमें परीक्षा परिणाम सराहनीय रहा है। जिसमें प्रमुख रूप से प्रथम स्थान खुशबू मरकाम (77.60%), द्वितीय स्थान आकांक्षा भूषण (76.40%), कविता रामटेके (76.00%) तृतीय स्थान, चुन्नी नारद चतुर्थ स्थान एवं कल्याणी यादव व तनुष्का पण्डित (73.60%)ने पंचम स्थान प्राप्त कर अपोलो कॉलेज ऑफ नर्सिंग को गौरवन्वित किया।

इसका मुख्य कारण यह है कि अपोलो महाविद्यालय द्वारा इंडियन नर्सिंग काऊंसिल नई दिल्ली द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रमानुसार पढ़ाई संचालित कर विद्यार्थियों को प्रायोगिक अनुभव के लिये जवाहर लाल नेहरू सेक्टर-9 हॉस्पिटल, भिलाई में प्रशिक्षण के लिए ले जाया जाता है। विद्यार्थी यहां प्रशिक्षण प्राप्त कर विशेष उपलब्धि अर्जित कर महाविद्यालय को गौरवन्वित करते आ रहे है। महाविद्यालय में योग्य, अनुभवी शिक्षकों द्वारा नियमित रूप से विद्यार्थियों के अध्ययन के अलावा उसके व्यक्तित्व विकास पर भी अपना योगदान देते है तथा महाविद्यालय द्वारा विद्यार्थियों को विभिन्न प्रकार के सुविधाएं जैसे छात्रावास, मेस, बस, महाविद्यालय परिसर में बैंक व ए.टी.एम. लाईब्रेरी उपलब्ध है।

कम्युनिटी प्रशिक्षण हेतु महाविद्यालय द्वारा विद्यार्थियों को नगपुरा ले जाया जाता है। विद्यार्थियों की इस उपलब्धि पर महाविद्यालय के प्राचार्य पी.ईमैन्यूल, उप प्राचार्य श्रीमती प्रभा पाण्डे, एवं महाविद्यालय के शिक्षक पूर्णिमा अमित दास, अनीता राजेश, जीया सजीव, एनी एडिथ मेलिंडा, सुशीकरण, रूपा साहू , गरिमा साहू, हेमंत, यरूशा मोजेस, पुष्पा, चेमिन, खेमन, रितु व समस्त अपोलो परिवार ने अत्यंत हर्ष के साथ सभी विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य के लिये शुभकामनाएं प्रेषित की है।

भाजपा ने भैया के नामांकन को लेकर आपत्ति जताई 

भाजपा ने भैया के नामांकन को लेकर आपत्ति जताई 


खतौली से गठबंधन प्रत्याशी मदन भैय्या के नामांकन पर छाया संकट, भाजपा नेताओं ने जताई आपत्ति, आज होगा फैसला

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। खतौली उपचुनाव के लिए नामांकन करने वाले रालोद, सपा और असपा के संयुक्त प्रत्याशी मदन भैया के नामांकन पर संकट आ गया है। भारतीय जनता पार्टी ने उनके नामांकन को लेकर आपत्ति जताई है। जिसपर निर्वाचन अधिकारी आज सुनवाई कर फैसला करेंगे।

खतौली सीट से रालोद सपा के संयुक्त प्रत्याशी मदन भैय्या ने कल अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था। आज भारतीय जनता पार्टी की ओर से उनके अधिवक्ता शिवराज त्यागी ने आपत्ति दाखिल की है। शिवराज त्यागी ने आरोप लगाया है कि मुकदमों की जानकारी सही नहीं दी गई है। जबकि नोटरी द्वारा भी सही ढंग से हस्ताक्षर नहीं किए गए है। जिसके चलते नामांकन पत्र निरस्त होना चाहिए।

जिस पर कल स्कूटनी के समय सुनवाई होगी। आज निर्वाचन अधिकारी जीत सिंह राय दोनों पक्षों की राय सुनने के बाद नामांकन-पत्र पर अपना फैसला देंगे। फिलहाल नामांकन पत्र को लेकर राजनीति क्षेत्रों में सरगर्मी फिर बड़ गई है।

नगरपालिकाओं एवं नगर पंचायतों का चुनाव, मीटिंग

नगरपालिकाओं एवं नगर पंचायतों का चुनाव, मीटिंग


चुनाव को लेकर महेंद्र शर्मा के आवास पर झिंझाना मे हुई बैठक

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। निकाय चुनावों में कांग्रेस पार्टी मजबूती के साथ उतरेगी। यह बात कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपक सेनी ने झिंझाना में पू्र्व प्रधानाचार्य महेंद्र शर्मा के आवास पर पार्टी की एक मीटिंग मे कही। उन्होंने बताया कि कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व के दिशा निर्देश पर जनपद की सभी नगरपालिका एवं नगर पंचायतों के चुनाव को लेकर मीटिंग करके रणनीति बनाई जा रही है। कांग्रेस सभी नगर पंचायतों व जनपद की नगरपालिका के लिए मजबूत प्रत्याशियों का चयन किया जा रहा है। केण्डीडेट फााईनल करने के लिए 11 सदस्यों की एक कमेटी बनाई गई है। 

निकाय चुनावों में ब्लाक अध्यक्षों/न्याय पंचायतों के अध्यक्ष की सहभागिता रहेगी। देश में सत्ता पर आशीन नेताओं ने देश में धर्म और जातिवाद का पाखंड रचा हुआ है। कांग्रेस पार्टी इस बार सत्ता में वापसी करेगी।यूवा कांग्रेस प्रदेश महासचिव अशवनी शर्मा सींगरा ने बताया कि भाजपा के लोगों ने देश को अपनी जागीर समझ लिया है। सनातन संस्कृति के लिए सबसे घातक भाजपा ही है। राम केवल भाजपा के ही नहीं हैं। कांग्रेस मे सनातनियों की कमी नहीं है बस श्रेय लेना हमारी परमपरा नहीं है। देश में शांति और सदभावना के लिए कांग्रेस जरूरी है। यूवा जिला अध्यक्ष राजेंद्र गोल्डी ने कहा कि सारे विभाग भ्रष्टाचार मे लिप्त हैं। बिना रिस्वत के किसी का काम नहीं होता। कांग्रेस पार्टी सबका साथ, सबका विकास की बात करती है। हमारी करनी ओर करनी एक ही है।

मुख्य रूप से जिला अध्यक्ष दीपक सेनी, मा.महेंद्र शर्मा,अशवनी शर्मा सींगरा,राजेंद्र गोल्डी यूवा जिला अध्यक्ष, देशबंधु बिंदल, लोकेश कटारिया, विकास शर्मा, सुरेश मंत्री, अमित शर्मा टिल्लू, धर्मवीर सांडिल्य,नारायण दत्त शर्मा, निरजकांत शर्मा, शाहनवाज खान,दिनेश तोमर,राहुल गोयल आदि मौजूद रहे।

'बीपीएससी' ने प्रीलिम्स परीक्षा के नतीजे घोषित किए 

'बीपीएससी' ने प्रीलिम्स परीक्षा के नतीजे घोषित किए 

अविनाश श्रीवास्तव 

पटना। बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने प्रीलिम्स परीक्षा के नतीजे घोषित कर दिए हैं। इस परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवार बीपीएससी की ऑफिशियल वेबसाइट bpsc.bih.nic.in पर जाकर परिणाम देख सकते हैं। रिजल्ट का लिंक एक्टिव कर दिया गया है। लाखों उम्मीदवारों का इंतजार अब खत्म हो चुका है। बीपीएससी प्री परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवार मेन्स परीक्षा में बैठने के पात्र होंगे। बीपीएससी मेन्स की परीक्षा 29 दिसंबर को आयोजित की जाएगी। एग्जाम से पहले एडमिट कार्ड जारी किया जाएगा।

इस साल बीपीएससी 67वीं प्री परीक्षा में लगभग चार लाख स्टूडेंट्स शामिल हुए थे। मेन्स परीक्षा का रिजल्ट 14 मार्च 2023 को जारी कर दिया जाएगा। उसके बाद इंरटरव्यू 29 मार्च से शुरू होगा। रिजल्ट 28 मई 2023 को जारी कर दिया जायेगा। जानकारी के मुताबिक, प्रारंभिक परीक्षा के नतीजे घोषित होते ही 68वीं का विज्ञापन जारी किया जाएगा।

ऐसे चेक करें अपना रिजल्ट-

  • सबसे पहले उम्मीदवार ऑफिशियल वेबसाइट bpsc.bih.nic.in पर जाएं।
  • उसके बाद BPSC 67th Result लिंक पर क्लिक करें।
  • अब पीडीएफ फाइल खुलने पर अपना रोल नंबर सर्च करें।
  • भविष्य के लिए पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं।

बोस को पश्चिम बंगाल का नया राज्यपाल बनाया 

बोस को पश्चिम बंगाल का नया राज्यपाल बनाया 

मिनाक्षी लोढी 

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के नए राज्यपाल डॉ सीवी आनंद बोस को बनाया गया है। पश्चिम बंगाल को नया राज्यपाल मिल गया है। डॉ. सी.वी. आनंद बोस को पश्चिम बंगाल का नया राज्यपाल नियुक्त किया गया है। भारत के उपराष्ट्रपति के रूप में अपने चुनाव से पहले जगदीप धनखड़ लगभग तीन वर्षों के लिए पश्चिम बंगाल के राज्यपाल रहे।

धनखड़ ने कई मौकों पर राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति और अन्य मुद्दों पर ममता बनर्जी सरकार से जवाब-तलब किया।

फर्जी मुकदमें को लेकर पत्रकारों की आवाज उठाई

फर्जी मुकदमें को लेकर पत्रकारों की आवाज उठाई

अनीस अंसारी 

लखनऊ। केन्द्रीय पत्रकार हेल्प एसोसिएशन के राष्ट्रीय संगठन मंत्री अनीस अंसारी ने पूरे भारत में हो रहे पत्रकारों पर अत्याचार। पत्रकारों पर फर्जी मुकदमे, हत्याएं 376 , 354 फर्जी मुकदमा एवं शासन प्रशासन नेताओं माफियाओं के द्वारा पत्रकारों को पीड़ित, अभद्र भाषा, मारपीट, फर्जी मुकदमें को लेकर पीड़ित पत्रकारों की आवाज उठाई।

केन्द्रीय पत्रकार हेल्प एसोसिएशन के राष्ट्रीय संगठन मंत्री अनीस अंसारी, सह संपादक अनिल कुमार रावत, उत्तर प्रदेश क्राइम ब्यूरो ओ पी गौतम, लखनऊ क्राइम ब्यूरो अब्दुल रहीम आजाद , वरिष्ठ पत्रकार अजय कुमार , वरिष्ठ पत्रकार राकेश कुमार, वरिष्ठ पत्रकार दिलीप कुमार कनौजिया, वरिष्ठ पत्रकार अंकित कुमार, एवं सम्मानित सभी पत्रकार शामिल हुए बैठक में पत्रकारों को लेकर बड़े स्तर की चर्चाएं हुई।

विषय पत्रकारों के साथ हो रहे अत्याचार व पत्रकारों की हत्या पत्रकारों पर संगीन धाराओं में 376 , 354 व पत्रकारों फर्जी रंगदारी जैसे मुकदमे लाद दिए जाते हैं। दबंग गुंडे माफिया भ्रष्टाचारी नेता भ्रष्टाचारी पुलिस कर्मियों की मिलीभगत से फर्जी मुकदमे लाद दिए जाते हैं। पत्रकारों पर सच्चाई उजागर करने को लेकर व पत्रकारों का बीमा पत्रकारों के परिवार को दुर्घटना पर एक करोड़ की सहायता राशि परिवार के सदस्य में एक को सरकारी नौकरी पत्रकारों को महीने की सैलरी 15000 वेतन पत्रकारों को सरकार की तरफ से सरकारी योजना में हर पत्रकार को एक मकान दिया जाए।

पत्रकारों पर पुलिस प्रशासन के द्वारा अभद्र व्यवहार और पत्रकारों पर झूठे मुकदमों पर रोक लगाने एवं पत्रकारों के ऊपर उत्तर प्रदेश में जितने भी फर्जी मुकदमे लगे हैं। उच्च स्तरीय जांच कराकर सारे मुकदमे वापस लिए जाएं पत्रकारों को मान सम्मान के साथ रिहा किया जाए जो पत्रकार दोषी हैं। उन पर कठोर कार्रवाई की जाए निर्दोष पत्रकारों को रिहा कराने के साथ - साथ पत्रकारों को उचित सुविधाएं मुहैया कराने के बारे में एवं बिना मान्यता प्राप्त पत्रकारों के लिए भारत सरकार उत्तर प्रदेश सरकार नए कानून को पास करने की कृपा करें पत्रकार भारत मां की आंख है। पत्रकार भारत की कलम है पत्रकार भारत की रीढ़ की हड्डी है।

पत्रकार भारत का चौथा स्थान है। लोकतंत्र की सुरक्षा की भारत सरकार उत्तर प्रदेश सरकार की जिम्मेदारी है। सरकार इस पर ध्यान दें और केन्द्रीय पत्रकार हेल्प एसोसिएशन के राष्ट्रीय संगठन मंत्री अनीस अंसारी आपका ध्यान आकर्षित कराना चाहते हैं कि आज पत्रकारों के साथ बहुत ही दुर्व्यवहार हो रहा हैं। आए दिन पत्रकारों को कभी गुंडों द्वारा कभी पुलिस द्वारा तो कभी जान बुझकर पत्रकारों पर झूठा मुकदमा दायर किया जाता है। जैसा कि आप जानते हैं, पत्रकार लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माना जाता हैं। जिसमें पत्रकार अपनी जान की परवाह ना करते हुए बिना किसी लालच के पब्लिक को न्याय दिलाने के लिए तपती दोपहरी में भी पत्रकार कवरेज करता है और उसी दौरान कई बार उसके साथ बहुत ही अभद्र व्यवहार किया जाता हैं। कभी पुलिस प्रशासन द्वारा कभी निजी गुंडों के द्वारा तो कभी बिना वजह के उन पर झूठे मुकदमे लाद दिए जाते हैं। कभी कभी तो पत्रकार को अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ता है। जैसा की कई पत्रकारों के साथ हो चुका हैं। आज पत्रकारों की बहुत ही दयनीय स्थिति हैं।

पत्रकारों के पास पत्रकारिता के अलावा अपने घर चलाने के लिए कोई और साधन नही हैं। आप से प्रार्थना हैं कि पत्रकारों के साथ अगर कोई घटना घटती है, तो उन के लिए अलग से कोटा रिजर्व किया जाए ताकि उन के परिवार के आर्थिक रूप से मदद की जाए केन्द्रीय पत्रकार हेल्प एसोसिएशन के राष्ट्रीय संगठन मंत्री अनीस अंसारी आप से उम्मीद करते हैं। कि आप पत्रकारों की दयनीय स्थिति के बारे में आप जरूर ध्यान दे।

पत्नी और बेटी के साथ प्रसिद्ध कैंची धाम के दर्शन किए

पत्नी और बेटी के साथ प्रसिद्ध कैंची धाम के दर्शन किए

पंकज कपूर 

नैनीताल। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान एवं दिग्गज खिलाड़ी विराट कोहली ने पत्नी एवं सिने अभिनेत्री अनुष्का शर्मा और बेटी के साथ गुरुवार को नैनीताल के प्रसिद्ध कैंची धाम के दर्शन किए। प्राप्त मिली जानकारी के अनुसार विराट कोहली आज सुबह सीधे कैंची धाम पहुंचे और तीनों ने नीम करौली महाराज के दर्शन किये। उन्होंने आरती में भाग लिया। वे कुछ देर मंदिर में रुके। उन्होंने इस दौरान मंदिर के पुजारी और कर्मचारियों के साथ फोटो भी खिंचवाये। उन्होंने हालांकि इस दौरान लोगों और श्रद्धालुओं से दूरी बनाए रखी। इसके बाद वह मुक्तेश्वर के लिए रवाना हो गए।

गौरतलब है कि विराट कोहली अपने परिवार के साथ बुधवार को नैनीताल के रामगढ़-मुक्तेश्वर पहुंचे। वह निजी हेलीकॉप्टर से सीधे घोड़ाखाल सैनिक स्कूल उतरे और वापस मुक्तेश्वर के लिए रवाना हो गए। उन्होंने इस दौरान भी किसी से बात नहीं की। घोड़ाखाल स्कूल के छात्र भी इस मौके पर उनकी अगुवाई के लिए खड़े रहे। उन्होंने विराट और अनुष्का का ताली बजाकर स्वागत किया। ऐसा बताया जा रहा है कि वह मुक्तेश्वर में अपने खास मित्र के यहां ठहरे हैं। दोनों यहां की शांत वादियों में कुछ दिन बिताना चाहते हैं।

हत्या के मामलें में 5 आरोपियों को उम्रकैद की सजा 

हत्या के मामलें में 5 आरोपियों को उम्रकैद की सजा 

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। वर्ष 2007 की 2 जनवरी को जनपद के थाना ककरौली क्षेत्र के गांव खेड़ी फिरोजाबाद में पुरानी रंजिश को लेकर हुई हत्या के मामलें में दोषी पाए गए पांच आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाई गई है। अदालत ने आरोपियों के ऊपर 14-14 हजार रुपए का जुर्माना भी किया है। बृहस्पतिवार को जनपद न्यायाधीश चवन प्रकाश की अदालत में वर्ष 2007 की 2 जनवरी को थाना ककरौली क्षेत्र के ग्राम खेड़ी फिरोजाबाद में पुरानी रंजिश को लेकर मस्जिद के भीतर की गई हत्या के मामले की सुनवाई की गई।

जनपद न्यायाधीश ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद हत्या के इस मामले में दोषी पाए गए पांच आरोपियों भूरा, सदा हसन, मुनव्वर, जहीर आलम और मुदस्सीर को उम्र कैद की सजा सुनाई है। अदालत की ओर से पांचों दोषियों के ऊपर 14-14 हजार रुपए का जुर्माना भी किया गया है। अदालत की ओर से कहा गया है कि जुर्माने की रकम में से 20000 रूपये की धनराशि मृतक के पिता आबाद मोहम्मद को दी जाएगी।

एक आरोपी जावेद को सबूत के अभाव में अदालत द्वारा बरी कर दिया गया है। हत्या के इस मामले में आरोपियों को सजा दिलाने के लिए अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता राजीव शर्मा की ओर से जोरदार पैरवी की गई, जबकि वादी पक्ष की ओर से ठाकुर दुष्यंत सिंह ने अपनी दलीलें अदालत के सम्मुख रखी।

पूनावाला से पांच दिन और पूछताछ करने की अनुमति

पूनावाला से पांच दिन और पूछताछ करने की अनुमति

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। श्रद्धा वॉकर हत्याकांड मामले में लगातार हो रहे खुलासे से पूरा देश दंग रह गया है। दिल्ली की अदालत ने शहर पुलिस को श्रद्धा हत्याकांड के आरोपी आफताब अमीन पूनावाला से पांच दिन और पूछताछ करने की बृहस्पतिवार को अनुमति दे दी। कोर्ट ने मामले का खुलासा करने के लिए उसका नार्को टेस्ट’ कराने की भी अनुमति दी।

श्रद्धा हत्याकांड ने दिलाई अनुपमा की कहानी
श्रद्धा के लिव इन पार्टनर आफताब आमीन पूनावाला ने उसे गला दबाकर मारने के बाद उसके शरीर के 35 टुकड़े कर दिए। फिर इन्हें जंगल में ठिकाने लगा दिया। इस हत्याकांड ने देहरादून के चर्चित अनुपमा गुलाटी हत्याकांड को एक बार ताज़ा कर दिया है। इस घटना ने 2010 की उसी खौफनाक कहानी को याद दिला दिया, जहां अनुपमा के पति राजेश गुलाटी ने उसकी निर्मम तरीके से हत्या कर दी थी।

शरीर के किए थे 70 टुकड़े
हत्या के दोनों मामलों में काफी समानताएं हैं। तब 36 साल की अनुपमा गुलाटी की उसके पति राजेश गुलाटी ने उत्तराखंड के देहरादून में हत्या कर दी थी। सिर्फ इतना ही नही दरिंदगी की हदें बार करते हुए हत्यारे ने अनुपमा को मारने के बाद उसके शरीर के 70 टुकड़े करने के लिए बिजली से चलने वाले कटर का इस्तेमाल किया था, जिन्हें वो कुछ दिनों तक राजपुर रोड पर मसूरी मोड़ पर एक नाले में फेंकता रहा।

दोनों के बीच हुआ था झगड़ा
दिल्ली की रहने वाली अनुपमा की शादी देहरादून के रहने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर राजेश गुलाटी से 1999 में हुई थी। दोनों अमेरिका रहने चले गए थे। दंपति के दो बच्चे भी थे
जो अमेरिका में ही पैदा हुए। फिर छह साल बाद 2006 में ये लोग भारत लौट आए। अनुपमा ने राजेश पर कोलकाता की एक महिला के साथ संबंध रखने का आरोप लगाया।

आफताब के जैसा तरीका अपनाया
आफताब पूनावाला हत्या को कवर अप करने के लिए श्रद्धा का सोशल मीडिया हफ्तों तक इस्तेमाल करता रहा। ताकि सबको लगे कि वह जिंदा है। ठीक इसी तरह अनुपमा का पति भी उसके परिवार और दोस्तों को गुमराह करने के लिए अनुपमा की मेल आईडी से उन्हें मैसेज भेजा करता था। उसने अपने दोनों बच्चों और यहां तक कि पड़ोसियों तक से कह दिया था कि अनुपमा दिल्ली गई है। हत्या का खुलासा दिसंबर में हुआ। जब अनुपमा का भाई कई दिनों तक उससे संपर्क नहीं कर पाया
तो उसने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।

फ्रिज में रखे गए शरीर के टुकड़े
आफताब पूनावाला की तरह ही राजेश ने भी अपनी पत्नी के शरीर के टुकड़ों को फ्रिज में रखा था। पुलिस ने शरीर के कई हिस्सों को बरामद कर लिया था
जिसमें अनुपमा की सिर भी शामिल था। जो डीप फ्रीजर में मिला।

राजेश को उम्रकैद की सजा सुनाई गई
साल 2017 में देहरादून की एक अदालत ने राजेश को हत्या का दोषी पाया और उसे आजीवन कारावास और 15 लाख रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई। देहरादून के पूर्व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जी एस मर्तोलिया
 ने कहा था कि अपने पूरे करियर मेंमैंने कभी इस तरह का मामला नहीं देखा थाजहां हत्यारे ने शव पर इस तरह का क्रूर अत्याचार किया हो। ऐसी हत्याएं अचानक नहीं होती हैं। उन्होंने कहा कि झगड़े और घरेलू हिंसा के कृत्यों के रूप में संकेत प्रकट होने लगते हैं।

बाबू को भारत का अगला राजदूत नियुक्त किया 

बाबू को भारत का अगला राजदूत नियुक्त किया 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी बंडारू विल्सन बाबू को समवर्ती रूप से कोमोरोस में भारत का अगला राजदूत नियुक्त किया गया है। विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

मंत्रालय के बयान के अनुसार, बंडारू विल्सन बाबू अभी मेडागास्कर में भारत के राजदूत के रूप में कार्य कर रहे हैं और उन्हें समवर्ती रूप से कोमोरोस में भारत का अगला राजदूत नियुक्त किया गया है। वह एक साथ दोनों जगह के राजदूत का दायित्व संभालेंगे। विल्सन बाबू भारतीय विदेश सेवा के 2004 बैच के अधिकारी हैं।

सिमरनजीत के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दें

सिमरनजीत के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दें

अमित शर्मा 

जालंधर। भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मंत्री मनोरंजन कालिया ने कहा कि मुख्य मंत्री भगवंत मान शहीद भगत सिंह को भारत रत्न देने की मांग करने से पहले भगत सिंह को आंतकवादी कहने वाले सिमरनजीत सिंह मान के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दें। कालिया ने मुख्य मंत्री भगवंत मान को गुरूवार को एक पत्र लिख कर कहा कि वे और भारतीय जनता पार्टी पंजाब स्वतंत्रता संग्राम के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव, करतार सिंह सराभा, लाला लाजपत राय और अन्य महान शहीदों को भारत रत्न देने और करतार सिंह सराभा को राष्ट्रीय शहीद का दर्जा देने की आपकी मांग का पूर्ण समर्थन करते हैं

उन्होने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीद भारत के प्रत्येक नागरिक के दिल में रहते हैं। कोई भी पुरस्कार शहीद के सर्वोच्च बलिदान की बराबरी नहीं कर सकता। यदि शहीद को कोई पुरस्कार दिया जाना है तो वह सभी शहीदों के लिए होना चाहिए। शहीदों में कोई भेदभाव नहीं हो सकता क्योंकि देश के लिए दिया गया हर बलिदान सर्वोच्च है। भाजपा नेता ने कहा कि संगरूर लोकसभा क्षेत्र से सांसद सिमरनजीत सिह मान ने 17 जुलाई को शहीद भगत सिंह को आतंकवादी कहा था। उन्होने कहा कि आपने एक मुख्यमंत्री के रूप में न तो उनके बयान पर प्रतिक्रिया दी और न ही सिमरनजीत सिंह मान के खिलाफ कोई आपराधिक कार्रवाई का आदेश दिया

कालिया ने कहा कि उन्होने 22 जुलाई को पत्र लिख कर मुख्य मंत्री से सिमरनजीत सिंह के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी लेकिन मुख्य मंत्री कार्यालय ने उनके पत्र को डीजीपी पंजाब को भेजने की बजाए विशेष मुख्य सचिव संसदीय कार्य विभाग को प्रेषित कर दिया। उन्होने कहा कि चार महीने का समय बीत जाने पर भी अभी तक सिमरनजीत सिंह के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होने कहा कि अगर सिमरनजीत सिंह मान के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती है, तो माना जायेगा कि आप दोहरे मापदंड अपना रहे हैं। 

24 नवंबर को 'नेशनल हाईवे' जाम का ऐलान: चढूनी

24 नवंबर को 'नेशनल हाईवे' जाम का ऐलान: चढूनी

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली। किसान आंदोलन के दौरान किसानों के खिलाफ दर्ज किए गए मुकदमों को वापस नहीं लिए जाने से बुरी तरह गुस्साए किसानों द्वारा अब 24 नवंबर को नेशनल हाईवे जाम का ऐलान किया गया है। इसी दिन मोहडा अनाज मंडी के पास जीटी रोड पर धरना देते हुए यहां के यातायात को भी बंद किया जाएगा। रेलवे की ओर से दर्ज मुकदमे वापस ले लिए जाने के बाद अब रेलवे ट्रैक के बंद के प्रोग्राम को वापस ले लिया गया है।

बृहस्पतिवार को किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा है कि किसानों की ओर से दी गई चेतावनी के बाद रेलवे ने किसानों के खिलाफ दर्ज सभी मुकदमे वापस ले लिए है। इसलिए अब 24 नवंबर को किसान ट्रेनों का चक्का जाम नहीं करेंगे। लेकिन इस दिन मोहडा अनाज मंडी के पास जीटी रोड को बाधित करते हुए इसे जाम किया जाएगा। उन्होंने कहा है कि राज्य के गृहमंत्री द्वारा किसानों के साथ हुई मीटिंग को लेकर दिया गया बयान पूरी तरह से गुमराह करने वाला है। किसान नेता ने कहा है कि हरियाणा सरकार ने अभी तक अपने वादे के मुताबिक किसानों के खिलाफ दर्ज किए गए सभी मुकदमे वापस नहीं लिए हैं। कई मामले ऐसे हैं, जिन्हें वापस लेने की प्रक्रिया ही अभी तक शुरू नहीं की गई है।

उन्होंने कहा है कि हरियाणा में दर्ज बहुत सारे मुकदमे अभी अदालतों में निलंबित पड़े हुए हैं। हालांकि हरियाणा सरकार ने ज्यादातर मामलों को रद्द करने की सिफारिश कर दी है। लेकिन इसके बावजूद अभी बहुत सारी संख्या में केस अदालतों में विचाराधीन हैं। जिस कारण से बहुत से लोगों के शस्त्र लाइसेंस भी रद्द कर दिए गए हैं और उनके पासपोर्ट भी नहीं बनाए जा रहे हैं।

3 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं की आधारशिला रखी

3 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं की आधारशिला रखी

इकबाल अंसारी 

सिलीगुड़ी। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की सिलीगुड़ी में एक कार्यक्रम में शिरकत करने के बाद तबीयत खराब हो गई और डॉक्टरों ने उनकी स्वास्थ्य जांच की। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक नीरज जिम्पा ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि गडकरी की तबीयत बाद में ठीक हो गई और वह अपनी कार में सवार होकर रवाना हो गए।

जिम्पा ने कहा, “कार्यक्रम खत्म होने के बाद गडकरी जी ने बेचैनी की शिकायत की। डॉक्टरों ने मंच के पीछे ले जाकर उनकी स्वास्थ्य जांच की। बाद में वह अपनी कार में सवार होकर रवाना हो गए।” गडकरी के स्वास्थ्य के बारे में विस्तृत जानकारी की प्रतीक्षा की जा रही है। पश्चिम बंगाल के दौरे पर आए गडकरी ने सिलीगुड़ी में 1,206 करोड़ रुपये की 3 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं की आधारशिला रखी।

'अग्निपथ’ योजना घातक, वापस लेने की मांग: सीएम 

'अग्निपथ’ योजना घातक, वापस लेने की मांग: सीएम 

इकबाल अंसारी/नरेश राघानी 

शिलोंग/जयपुर। मेघालय के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर अल्पकालिक अवधि के लिए संविदा नियुक्ति के आधार पर सेनाओं में युवाओं की भर्ती की केंद्र सरकार की ‘अग्निपथ’ योजना को घातक बताते हुए इसे तुरंत वापस लेने की मांग की। इसके साथ ही उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के बहुप्रचारित 'गुजरात मॉडल' पर कटाक्ष करते हुए कहा कि 'वहां कहीं कोई स्वर्ग नहीं आया है।'

यहां संवाददाताओं से बातचीत में उन्होंने कहा, 'इनको अंदाज नहीं है कि ये कितना नुकसान देश का कर रहे हैं। अग्निपथ बहुत ही घातक योजना है। केद्र सरकार को इसे तुरंत वापस लेना चाहिए और फौज की पेंशन आदि सुविधाओं वाली पूर्णकालिक नौकरी वापस लानी चाहिए।' भाजपा के बहुप्रचारित गुजरात मॉडल के बारे में उन्होंने कहा,'गुजरात मॉडल कुछ नहीं है। वही गरीबी है। उसी तरह के गांव हैं। उसी तरह का किसानों को कष्ट है। बेरोजगारी है, चिकित्सा सुविधाएं नहीं है। स्कूल भी अच्छे नहीं हैं।

कहीं गुजरात में कोई स्वर्ग नहीं आया हुआ।' गुजरात में विधानसभा चुनाव के बारे में पूछे जाने पर मलिक ने कहा, 'गुजरात में तो नगरपालिका चुनाव भी सांप्रदायिक करके जीतते रहे हैं। इस बार ऐसा नहीं है।' उन्होंने आगे कहा, 'गुजरात तो मैं घूमा हूं मैं नरेंद्र मोदी जी के चुनाव में गया था। मैं इनका प्रशंसक था।

जब ये गुजरात में थे तो ये किसानपरस्त थे इन्होंने एमएसपी लागू करने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को चिट्ठी लिखी थी।’’ मलिक ने कहा, ‘‘लोहिया कहते थे कि दिल्ली बहुत खराब जगह है यहां आकर आदमी बदल जाता है तो ये दिल्ली आकर बदल गए पता नहीं क्या हुआ है और उनकी किसान परस्ती खत्म हो गयी। मेरे तो इनसे जितनी भी मुलाकात हुईं वह किसानों के मुद्दे पर लड़ाई के साथ खत्म हुई।'

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के बारे में किसानों से किए अपने वादे को निभाना चाहिए। उन्होंने कहा किक कृषि जिंसों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य एमएसपी बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा है अगर इसे लागू नहीं किया गया तो फिर आंदोलन छिड़ेगा व देश में अफरा तफरी मचेगी इससे बचा जाना चाहिए।

मलिक ने कहा, 'देश की अर्थव्यवस्था भी नीचे जा रही है ऐसे में अगर महत्वपूर्ण लोग नहीं बोलेंगे या लड़ाई नहीं करेंगे तो यह देश रसातल में चला जाएगा क्योंकि जो लोग राज करते हैं वे तो अपने आत्ममुग्ध होते हैं कि अपने सब अच्छा कर दिया। उन्हें पता नहीं होता कि बाहर क्या हो रहा है।'

राजस्थान में सत्तारूढ़ कांग्रेस में कथित गुटबाजी संबंधी सवाल को उन्होंने यह कहते हुए टाल दिया कि 'सबको मिलजुल कर काम करना चाहिए। लड़ने का समय नहीं है। राजस्थान की तरक्की के लिए इनका लड़ना ठीक नहीं है। चुनाव आ रहा है, मिलकर रहना चाहिए।' 

नसबंदी करने वाले डॉक्टरों के लाइसेंस रद्द, मांग

नसबंदी करने वाले डॉक्टरों के लाइसेंस रद्द, मांग

अकांशु उपाध्याय/अविनाश श्रीवास्तव 

नई दिल्ली/पटना। राष्ट्रीय महिला आयोग ने बिहार के एक अस्पताल में कथित रूप से एनेस्थीसिया दिए बगैर महिलाओं की नसबंदी करने वाले डॉक्टरों के लाइसेंस रद्द करने की मांग की है। मीडिया में आयी खबरों के अनुसार, बिहार में खगड़िया जिले के दो सरकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर करीब 24 महिलाओं को एनेस्थीसिया दिए बगैर (बेहोश किए बिना) स्थायी नसबंदी के लिए उनकी सर्जरी की गई।

इस पर संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने बिहार के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर इसमें शामिल एनजीओ, डॉक्टरों और अन्य लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए कहा है। महिला आयोग ने ट्वीट किया है, ‘‘राष्ट्रीय महिला आयोग ने मेडिकल लापरवाही और तय प्रक्रिया का पालन नहीं करने को लेकर डॉक्टरों का लाइसेंस रद्द करने को कहा है।’’

पोषक तत्वों से भरपूर दालचीनी, जानिए फायदे

पोषक तत्वों से भरपूर दालचीनी, जानिए फायदे

सरस्वती उपाध्याय
दालचीनी एंटीऑक्सिडेंट जैसे कई यौगिकों में भरपूर होती है। इसमें जिंक, विटामिंस, मैग्नीशियम, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, आयरन और फास्फोरस जैसे कई पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो आपकी बॉडी को मजबूती देने में काफी हद तक मददगार होते हैं। वहीं दालचीनी महिलाओं के लिए भी किसी वरदान से कम नहीं होती है। क्योंकि, उनकी कई परेशानियों में दालचीनी राहत देने का काम करती है। कुछ शोध बताते हैं कि यह ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद कर सकता है और हृदय रोग में फायदेमंद होता है, साथ ही यह मसल्स सूजन को भी कम कर सकता है। 

मौजूद पोषक तत्वों की मौजूदगी मुहांसों की समस्या और अनियमित पीरियड्स की प्रॉबलम्स को दूर रख सकते हैं। शरीर पर आ रहे अधिक बालों के लिए भी दालचीनी कारगर मानी जाती है। मेनोपोज के दिनों में असहनीय दर्द, मूड स्विंग, ब्लोटिंग, चिड़चिड़ापन जैसी दिक्कतों को दूर करने के लिए आजमाएं दालचीनी और शहद। दालचीनी में यूजेनॉल मौजूद होता है, जो पीरियड्स के दौरान हो रही समस्याओं को बढ़ाने वाले हार्मोन का संतुलन बनाए रखने में मदद कर सकती है।

पीरियड्स क्रैम्प्स के लिए दालचीनी पानी
इन दिनों में आमतौर पर पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द होना, उल्टी आना, चक्कर, लूज मोशन, जी मचलाना और कमजोरी जैसी कई परेशानियों महसूस होती हैं। ऐसे में आपके लिए दालचीनी पानी बेहतर उपाय हो सकता है। 

दूध और दालचीनी
इस तरह की समस्याओं के लिए दालचीनी नेचुरल तरीके से आपकी सहायता कर सकती है। इसे उपयोग में लाने का सबसे कारगर उपाय दालचीनी पाउडर को गुनगुने दूध में डालकर पीना है। आप चाहें तो इसकी चाय भी बनाकर पी सकती हैं। इससे आपको कई फायदें मिल सकते हैं

दर्द से राहत 
पीरियड्स का दर्द कभी-कभी असहनीय बन जाता है। ऐसे हालात में आप दालचीनी की हर्बल चाय बनाकर पी सकती हैं या दालचीनी ऑयल से पेट की मालिश करने से भी सूजन और तेज दर्द में राहत मिलती है। 

हैवी ब्लीडिंग की समस्या 
कई लड़कियों को पीरियड के समय बहुत ब्लीडिंग होने लगती है, जो अहसज स्थिति बन सकती है और इसकी वजह से  दर्द कमजोरी, चिड़चिड़ापन जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जिसमें दालचीनी  के सेवन से ब्लड फ्लो का डायरेक्शन बदल जाता है और यही कारण है कि ब्लीडिंग कम होने लगती है। 

अधिक दालचीनी के सेवन का दुष्प्रभाव
शोध में पाया गया है कि बहुत अधिक दालचीनी का सेवन आपके लीवर के लिए नुकसानदायक हो सकता है। अधिक मात्रा में लेने की वजह से कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।

डार्क सर्कल्स को दूर करने में मदद, जानिए उपाय

डार्क सर्कल्स को दूर करने में मदद, जानिए उपाय

सरस्वती उपाध्याय 

दूध और गुलाब जल डार्क सर्कल्स को दूर करने में काफी मदद करता है। इसके लिए गुलाब जल और दूध को बराबर मात्रा लेकर कॉटन की मदद से डार्क सर्कल्स पर लगाकर 20 मिनट तक के लिए छोड़ दें। उसके बाद कॉटन पैड हटा लें और फिर फेस को पानी से धो लें।

यूं तो लोग डार्क सर्कल्स छिपाने के लिए कई नुस्खे अपनाते हैं। कंसीलर से लेकर मेकअप तक, भले ही ये चीजें आपकी आंखों के नीचे काले घेरे को छिपाने में मदद करे, लेकिन यह इसका परमानेंट इलाज नहीं है। इसलिए बेहतर होगा कि आप कुछ ऐसे उपायों को अपनाएं जो इन काले घेरों की हमेशा-हमेशा के लिए छुट्टी कर दें और फिर कभी इन्हें आपको छिपाने की जरूरत ही ना पड़े। ऐसे में आइए जानते हैं उन घरेलू उपायों के बारे में जिन्हें अपनाने के बाद ये आपके काले घेरों की हमेशा के लिए छुट्टी कर दें। 

डार्क सर्कल्स होने के प्रमुख कारण

पर्याप्त नींद ना लेना।

गलत खानपान और अनियमित दिनचर्या

देर रात तक स्क्रीन देखना

थकान, तनाव

आंखों में सूखापन या आंखों की एलर्जी

डिहाइड्रेशन

शरीर में पानी की कमी

धूप और प्रदूषण में ज्यादा देर रहना आदि।


डार्क सर्कल कम करने के घरेलू उपाय 

दूध और गुलाब जल 

दूध और गुलाब जल डार्क सर्कल्स को दूर करने में काफी मदद करता है। इसके लिए गुलाब जल और दूध को बराबर मात्रा लेकर कॉटन की मदद से डार्क सर्कल्स पर लगाकर 20 मिनट तक के लिए छोड़ दें। उसके बाद कॉटन पैड हटा लें और फिर फेस को पानी से धो लें।

आलू का रस

डार्क सर्कल्स हटाने के लिए आलू का रस भी आपकी मदद कर सकता है। इसके लिए पहले आलू को कद्दूकस कर लें। उसके बाद उसका रस लेकर रुई की मदद आंखों के आसपास लगाएं और फिर इसे कुछ देर लगा रहने दें। इसके बाद आंख को साफ पानी से धो लें। कुछ दिनों तक ऐसा करने से आपको बहुत फायदा मिलेगा।

टमाटर 

टमाटर सेहत के साथ-साथ स्किन के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। ऐसे में आंखों के नीचे काले घेरे को हटाने के लिए सबसे पहले  2 चम्मच टमाटर के रस में कुछ बूंदे नींबू के रस को मिलाकर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को 10 मिनट के लिए आंखों के नीचे लगाएं। उसके बाद साफ पानी से धो लें। ऐसा करने से डार्क सर्कल की समस्या दूर होगी।

खीरा 

इसके लिए पहले खीरे को स्लाइस में काट लें। उसके बाद इसे 10 मिनट तक के लिए अपने आंखों पर रखें। इससे डार्क सर्कल्स की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। 

शहद, दूध और नींबू

आंखों के नीचे काले घेरे को हटाने के लिए शहद, दूध और नींबू बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसके लिए एक चम्मच दूध में आधा चम्मच शहद और नींबू का रस मिलाकर आंखों के आसपास मसाज करें। ऐसा करने से डार्क सर्कल्स दूर हो सकते हैं।

किसी भी कीमत पर कपट और छल से धर्मांतरण नहीं 

किसी भी कीमत पर कपट और छल से धर्मांतरण नहीं 

मनोज सिंह ठाकुर 

केसला। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज आदिवासियों के बीच कहा कि वे प्रदेश की धरती पर किसी भी कीमत पर कपट और छल से धर्मांतरण नहीं होने देंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान नर्मदापुरम के केसला में आयोजित 'पेसा जागरूकता सम्मेलन' को संबोधित कर रहे थे।

इस दौरान उन्होंने जनजातीय नायक बिरसा मुंडा, टंट्या मामा, शंकर शाह और रघुनाथ शाह को प्रणाम कर संबोधन की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि वे प्रदेश की धरती पर किसी भी कीमत पर कपट और छल से धर्मांतरण नहीं होने देंगे। साथ ही चौहान ने कहा कि जहां-जहां पेसा कानून लागू हो रहा है वहां हर साल पटवारी और बीट गार्ड को ग्राम सभा में नक्शा, खसरा की नकल रखनी पड़ेगी, ताकि कोई किसी की जमीन हथिया न पाए।

कोई भी रेत, गिट्टी या पत्थर की खदान है अगर इसका सर्वे शासन को भी करना है तो ये बिना ग्राम सभा की सहमति के नहीं होगा। अनुसूचित क्षेत्र में खदानों में पहला हक होगा जनजातीय सोसाइटी का, दूसरा हक जनजातीय बहनों का और तीसरा हक कोई पुरुष अप्लाई करता है तो उसका होगा। चौहान ने कहा कि जितनी वनोपज होगी, अब जनजातीय लोगों का अधिकार है, वे इसको उठाएं, बीनें और उसके बाद ग्राम सभा ही प्रशासन से साथ मिलकर इसके रेट तय करेगी। उन्होंने कहा कि गांव से किसी मजदूर को काम करवाने बाहर ले जाना हो तो उसे गांव में अपना परिचय लिखवाने के बाद ही ले जाने की अनुमति मिलेगी, ताकि किसी श्रमिक को कोई परेशान न कर सके।

बिना गांव में नाम लिखाए अगर कोई ले गया तो कानून उसको कड़ी से कड़ी सजा देगा। मध्यप्रदेश में दो दिन पहले राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की उपस्थिति में पेसा (अनुसूचित क्षेत्रों में पंचायतों का विस्तार संबंधी अधिनियम) लागू हुआ है। श्री चौहान आज इसी अधिनियम के बारे में जागरुकता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-37, (वर्ष-06)

2. शुक्रवार, नवंबर 18, 2022

3. शक-1944, मार्गशीर्ष, कृष्ण-पक्ष, तिथि-दसमीं, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:43, सूर्यास्त: 05:26। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 21 डी.सै., अधिकतम-32+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...