सोमवार, 18 मई 2020

'मोदी के खिलाफ' याचिका पर सुनवाई

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय 2019 के आमसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्वाचन को चुनौती देने वाली याचिका की सुनवाई अब शुक्रवार को करेगा। इसकी सुनवाई आज के लिए सूचीबद्ध थी, लेकिन अज्ञात कारणवश मुख्य न्यायाधीश के उपलब्ध न रहने के कारण उनके समक्ष सूचीबद्ध सभी मामलों की सुनवाई के लिए 22 मई की तारीख मुकर्रर की गयी, जिनमें मोदी के निर्वाचन के खिलाफ चुनाव याचिका भी शामिल है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के पूर्व जवान तेज बहादुर यादव ने मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनावी पर्चा भरा था लेकिन वह खारिज हो गया था। यादव ने मोदी के निर्वाचन को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी, लेकिन गत वर्ष दिसंबर में इसने यह कहते हुए याचिका खारिज कर दी थी कि याचिकाकर्ता का नामांकन पत्र खारिज हो गया था और वह उम्मीदवार नहीं रह गए थे, इसलिए उन्हें निर्वाचन को चुनौती देने का कोई अधिकार नहीं है।


यादव ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी है। जिसकी सुनवाई मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति हृषिकेश राय की खंडपीठ को आज करनी थी, लेकिन न्यायमूर्ति बोबडे के उपलब्ध न हो पाने के कारण इसे शुक्रवार के लिए टाल दिया गया है।


रात 10 से सुबह 4 बजे तक यातायात बंद

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अब रात 10 बजे से सुबह चार बजे तक कोई भी सवारी वाहन नहीं चलेंगे। सिर्फ मालवाहक ट्रकों और गाड़ियों को इस दौरान सड़कों पर चलने की अनुमति होगी। औरैया सड़क हादसे के बाद डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने सभी जिलों के पुलिस कप्तानों को इसके निर्देश जारी किए हैं।


डीजीपी ने बताया कि औरैया हादसे के बाद मुख्यमंत्री ने हादसों को लेकर समीक्षा की। उस बैठक में ही ये निर्देश दिए गए हैं। बैठक में यूपी-112 की पीआरवी टीमों और थानों को निर्देश दिए गए हैं कि वे रात में पट्रोलिंग करेंगे। यूपी-112 की गाड़ियां हाई-वे पर मौजूद रहेंगी और ओवर स्पीडिंग पर नजर रखेंगी। इसके अलावा सामान लदे वाहनों में किसी सवारी को जाने नहीं दिया जाएगा। ऐसे लोगों को उतारकर शेल्टर होम में भेजने के बाद जिला प्रशासन की मदद से गंतव्य तक पहुंचाया जाएगा। इसके लिए सभी डीएम को 200-200 वाहन रिजर्व रखने के निर्देश दिए गए हैं। डीजीपी ने बताया कि मजदूर किसी अन्य साधन से न आए-जाएं, इसके लिए महोबा व झांसी से गोरखपुर-वाराणसी के लिए ट्रेनें शुरू की गई हैं। अभी तक सहारनपुर वाले रूट से ये ट्रेनें चल रही थीं।


अलीगढ़ः मरीजों के मिलने का सिलसिला

अलीगढ़। अलीगढ़ जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों के मिलने का सिलसिला थम नहीं रहा। रविवार को भी दो नए कोरोना संक्रमित मरीज घोषित हुए हैं। इनमें एक युवक देहली गेट के हॉटस्पॉट एरिया उस्मानपाड़ा से सटे टनटनपाड़ा का है, जबकि डेढ़ साल की बच्ची कोतवाली के तुर्कमान गेट की है। 


दोनों पहले से अन्य गंभीर बीमारियों के चलते जेएन मेडिकल कॉलेज में इलाज पा रहे हैं। वहीं जांच में उन्हें संक्रमित पाया गया है। दोनों फिलहाल मेडिकल में ही भरती हैं। सूचना पर टीमों ने परिवारों को होम क्वारंटीन कराने की तैयारी कर दी है।


जेएन मेडिकल कॉलेज से जारी बुलेटिन के अनुसारः टनटनपाड़ा का 22 वर्षीय युवक लंबे समय पेट रोग से ग्रसित है। उसका मेडिकल कॉलेज से ही इलाज च रहा है। तबियत खराब होने पर यह फिर से तीन दिन पहले वहां भरती हुआ। जहां जांच में उसे कोरोना संक्रमित पाया गया है। इसी तुर्कमान गेट की डेढ़ साल की बच्ची के शरीर में संक्रमण है। जिससे इस बच्ची की इम्युनिटी क्षमता बेहद कमजोर है। इसका इलाज भी मेडिकल में ही चल रहा है। तबियत बिगड़ने पर इसे भी वहीं ले जाया गया, जहां जांच में इसे भी संक्रमित घोषित किया गया है। लोगों को बार-बार सचेत किया जा रहा है। शहर में कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला जारी है। रविवार को भी मेडिकल में भरती पुराने शहर के दो मरीज संक्रमित पाए गए हैं। इनके परिवारों को क्वारंटीन कराया जा रहा है। लोगों से अपील है कि वह लॉकडाउन का पालन करें।


चंद्रभूषण सिंह


लॉक डाउन के बाद सीएम ममता का ऐलान

लॉकडाउन को लेकर सीएम ममता बनर्जी का ऐलान


कोलकाता/ जयपुर। केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन को बीते रविवार 31 मई तक बढ़ाए जाने की घोषणा के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने घोषणा की है कि राज्य में 31 मई तक के लिए लॉकडाउन को बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा- हम कुछ दिनों में 115 और ट्रेनों की व्यवस्था करने की कोशिश करेंगे और राज्य सरकार ट्रेन का किराया चुकाएगी।


राजस्थान में 140 नए मामलेः राजस्थान में 140 नए मामले सामने आए हैं जिनमें से 2 की मौत हो गई है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, राजस्थान में अब कोरोना के कुल मामलों की संक्या 5342 हो गई है जिसमें से 133 लोगों की मौत हो गई है और 2666 लोगों को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है। राज्य में सबसे ज्यादा 1597 मामले जयपुर से सामने आए हैं जबकि जोधपुर में भी 1036 कोरोना के केस सामने आए हैं।


उत्तर प्रदेशः मृतक-112 संक्रमित 4464

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में रविवार को कोरोना संक्रमण के 208 नये मामले सामने आये। आठ और मौतों के साथ राज्य में इस संक्रमण के कारण जान गंवाने वालों की संख्या 112 हो गयी है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से देर शाम जारी बुलेटिन में बताया गया कि राज्य में कोविड-19 संक्रमण के 208 नये मरीज सामने आये। इसी के साथ राज्य में कोरोना संक्रमण के मामले अब 4464 हो गये हैं। कुल 2636 लोग स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं जबकि इस संक्रमण की वजह से 112 लोगों की मौत हुई है। लेटिन में बताया गया कि बीते चौबीस घंटों के दौरान सबसे अधिक पांच मौतें अलीगढ में हुई। दो मरीजों की कानपुर और एक मरीज की मेरठ में मौत हुई। बुलेटिन के अनुसार कोविड-19 संक्रमण से सबसे अधिक 27 मौतें आगरा में हुई हैं। मेरठ में 19, मुरादाबाद में 11, अलीगढ और कानपुर नगर में आठ आठ, गौतम बुद्ध नगर में पांच, फिरोजाबाद, मथुरा और झांसी में चार चार, गाजियाबाद और मैनपुरी में दो दो तथा लखनऊ, वाराणसी, हापुड, बुलंदशहर, बस्ती, बिजनौर, प्रयागराज, जालौन, संत कबीर नगर, प्रतापगढ, अमरोहा, बरेली, श्रावस्ती, आजमगढ, एटा, कानपुर देहात, महोबा और ललितपुर में एक एक व्यक्ति की मौत कोरोना संक्रमण की वजह से हुई है। बुलेटिन में बताया कि राज्य में इस संक्रमण के 1716 मरीज अब भी अस्पतालों में हैं । तबलीगी जमात और उसके संपर्क में आये मरीजों की संख्या 1282 हैं। इससे पहले प्रमुख सचिव :चिकित्सा एवं स्वास्थ्य: अमित मोहन प्रसाद ने यहां संवाददाताओं को बताया था कि पूरे राज्य में 56, 019 आइसोलेशन एवं 26, 419 क्वारेंटाइन बेड हैं। वेंटीलेटर बेड की संख्या 1260 है । राज्य में 10, 201 लोगों को पृथकवास केन्द्रों में रखा गया है। राज्य में टेस्टिंग लैब की संख्या 27 है ।प्रसाद ने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप का लगातार उपयोग हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष से 11 हजार से अधिक लोगों से संपर्क कर स्वास्थ्य संबंधी सलाह दी गयी है ।उन्होंने बताया कि स्रर्विलांस टीमें लगातार सर्वेक्षण का कार्य कर रही हैं । कुल 78, 576 टीमों ने 64 लाख से अधिक घरों और इन घरों में तीन करोड 19 लाख से अधिक लोगों का सर्वेक्षण किया है ।उन्होंने बताया कि जो प्रवासी कामगार घर पर पृथक-वास में रह रहे हैं, आशा कार्यकर्ता लगातार उनके स्वास्थ्य की जानकारी ले रही हैं। अब तक तीन लाख 72 हजार से अधिक प्रवासी कामगारों के स्वास्थ्य का सर्वेक्षण किया गया है और 414 लोगों को इंफ्लुएंजा या सांस लेने में तकलीफ जैसे कोई ना कोई लक्षण हैं। उनकी जांच की जा रही है।


डीएम की लापरवाही, गई मजदूरों की जान

'डीएम की लापरवाही से मजदूर जान गंवा रहे'


लखनऊ/ औरैया। पुलिस अफसरों का कहना है कि इसके बावजूद डीएम बसों का इंतजाम नहीं कर रहे और मजदूर जान गंवा रहे हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में इस पर नाराजगी जताई थी। उन्होंने निर्देश भी दिए कि प्रवासी मजदूरों को सभी प्रकार की सुविधाएं देना जिला प्रशासन की जिम्मेदारी होगी। 13 अप्रैल को भी इस संबंध में शासनादेश जारी हुआ था।


पुलिस पर कार्रवाई से नाराजगीः औरैया हादसे के बाद दो एसएचओ के निलंबन और पुलिस अधिकारियों से मांगे गए स्पष्टीकरण को लेकर महकमे में नाराजगी है। पुलिस अफसरों के बीच चर्चा है कि सभी जिलों के डीएम को श्रमिकों को भेजने के लिए प्राइवेट बसों का इंतजाम करने के निर्देश दिए गए हैं। इससे जुड़ा 15 मई का अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार का सभी डीएम को जारी पत्र वायरल हुआ है। इसमें कहा गया है कि रोडवेज बसें कम पड़ने पर डीएम प्राइवेट बसें भी ले सकते हैं और लोकसभा चुनाव की दर से इनका भुगतान होगा।


लॉक डाउन, चिकन-जरदोजी को झटका

लखनऊ। लॉकडाउन में सबसे बड़ा झटका लखनऊ की पहचान चिकन और जरदोजी के काम को लगा है। दरअसल, पूरे साल में चिकन के कपड़ों की सबसे ज्यादा बिक्री मार्च से जुलाई के बीच होती है। लॉकडाउन के कारण इस साल चिकन का करीब 3000 करोड़ का कारोबार नहीं हो सका है। फिलहाल कारोबारी लॉकडाउन खुलने और काम शुरू होने की आस लगाए बैठे हैं। इसके उलट चिकन कारीगरों ने पेट भरने के लिए दूसरा काम शुरू कर दिया है। ज्यादातर कारीगर फल और सब्जी बेचने लगे हैं। चिकन-जरदोजी के काम से प्रदेश भर में करीब पांच लाख लोग जुड़े हैं। लखनऊ के अलावा बाराबंकी, सीतापुर, हरदोई और लखीमपुर खीरी में भी इसके कारीगर हैं। किचन कारोबारियों के मुताबिक, लॉकडाउन में इन कारीगरों के पास कोई काम नहीं बचा। ऐसे में कई कारीगर फल-सब्जी के ठेले लगा रहे हैं। इससे पहले पिछले पांच साल में 20% कारीगरों ने चिकन का काम छोड़ ई-रिक्शा चलाना शुरू कर दिया है।
नहीं मिल रहे ऑर्डर में चिकन का सालाना कारोबार करीब 8 हजार करोड़ का है। लखनऊ चिकन असोसिएशन के सुरेश छबलानी के मुताबिक, होली के बाद से कारोबार की स्थिति ठीक नहीं है। चौक में होल सेल का काम करने वाले कृष्णा के मुताबिक, करीब 10 देशों में उनका माल जाता है। इसके साथ यहां बने जरदोजी वाले लहंगों की भी काफी मांग है, लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण ऑर्डर नहीं आ रहे।


गोदाम में डंप है मालः चिकन और जरदोजी का काम करने वाले नदीम ने बताया कि वह करीब 50% बाहर सप्लाई करते हैं। इसका बड़ा हिस्सा बांग्लादेश, कनाडा, अमरिका और खाड़ी देशों में जाता है, लेकिन ऑर्डर न होने के कारण माल गोदामों में डंप है। सहालग नहीं तो जरदोजी नहींः जरदोजी का काम करने वाले सुमित और उत्तम कपूर बताते हैं कि सहलाग में जरदोजी का काम काफा अच्छा होता है। इस बार स्थिति ज्यादा खराब है। शादियां न होने के जरदोजी के ऑर्डर भी नहीं आ रहे।


ओडीओपी के बाद भी मदद नहींः लखनऊ का चिकन और जरदोजी का कारोबार प्रदेश सरकार की वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रॉडक्ट (ओडीओपी) योजना के तहत आता है। चिकन कारोबारियों के मुताबिक, ओडीओपी के तहत इस उद्योग को मदद मिलनी चाहिए। इसके साथ तरह चिकन को जीएसटी मुक्त भी किया जाना चाहिए।


ऑनलाइन पढ़ाई की भी हो 'मॉनिटरिंग'

'ऑनलाइन पढ़ाई की भी हो मॉनिटरिंग'


अगर बच्चा मोबाइल ऐप से मानसिक अयोग्य हुआ तो अपराध मानकर होगी कार्रवाई


बाराबंकी। ऑनलाइन पढ़ाई के प्रयासों पर सवाल खड़े हो गए हैं। डीएम आदर्श सिंह ने एक पत्र जारी कर कहा है कि यदि ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान कोई बालक मानसिक रूप से अयोग्य हो जाता है और उसको मानसिक रोग हो जाता है तो उसको किशोर न्याय अधिनियम 2015 की धारा 75 के अंतर्गत दंडनीय अपराध माना जाएगा।


डीएम ने अपने पत्र में कहा कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग नई दिल्ली ने मोबाइल ऐप के दुष्प्रभाव से बच्चों की सुरक्षा के प्रति चिंता व्यक्त करते हुए स्कूल के शिक्षकों-प्रबंधकों व बच्चों के अभिभावकों को भी इसकी निगरानी करने का अनुरोध किया गया है। इस क्रम में बाराबंकी के समस्त बीईओ तथा समस्त प्रबंधकों व प्रधानाचार्य आईसीएसई, सीबीएसई, बेसिक शिक्षा से मान्यता व सहायता प्राप्त विद्यालयों को उनके विद्यालयों का नोडल अधिकारी नामित करते हुए निर्देशित किया जाता है कि ऑनलाइन कक्षाओं की पूर्ण निगरानी एवं उससे उत्पन्न होने वाले समस्याओं का निराकरण राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग की एडवाइजरी के अनुरूप करते हुए उनको अवगत करवाएं। वहीं इस संबंध में प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष सुशील कुमार पांडेय का कहना है कि ऑनलाइन पढ़ाई को लेकर शिक्षक दुविधा में है, एक तरफ परिषदीय स्कूलों में पढ़ने वाले 90 प्रतिशत बच्चों के पास स्मॉर्टफोन नहीं है। वहीं दूसरी तरफ विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाएं। इसकी लगातार समीक्षा भी हो रही है और कार्रवाई की चेतावनी दी जा रही है। बच्चों की आंखें नाजुक होती हैं, इससे ध्यान केंद्रित करके वो हर समय मोबइल देखा करेंगे। उनकी आंखों को नुकसान हो सकता है। इसलिए मैंने बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी से मांग की थी कि ऑनलाइन शिक्षा को छोटे बच्चों पर थोपा नहीं जाए। लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई। बाराबंकी में कार बाजार में व्यापार करने वाले रवि नाद का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान मैं अपनी दोनों बच्चियों को लेकर परेशान रहने लगा हूं। यह दोनों बच्चियां मोबाइल के माध्यम से पढ़ाई कर रही हैं। इनको स्कूल से ऑनलाइन एजुकेशन के नाम पर घंटों पढ़ते देखकर इनकी चिंता हो रही है।


2.05 लाख टिकटें, 76.22 करोड़ कमाए

नई दिल्ली। भारतीय रेल ने विशेष राजधानी एक्सप्रेस के 15 जोड़ी ट्रेनों की बुकिंग में सप्ताह के भीतर 2.05 लाख टिकटों की बिक्री कर 76.22 करोड़ रुपये की कमाई की। भारतीय रेल ने 10 मई को घोषणा की थी कि 12 मई से 15 जोड़ी राजधानी ट्रेनों का परिचालन शुरू होगा, जिसकी बुकिंग 11 मई से शुरू की जाएगी। अधिकारियों ने कहा कि एक सप्ताह के भीतर 3.80 लाख यात्रियों के टिकट बुक किए गए हैं। सोमवार को, 26,830 से अधिक यात्री स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों से यात्रा करेंगे, जबकि रविवार को 30,039 यात्री ने इससे सफर किया था।
रेलवे ने घातक कोरोना वायरस के प्रसार से निपटने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन के बीच 25 मार्च से यात्री, मेल और एक्सप्रेस ट्रेन सेवाओं को निलंबित कर दिया है।


विशेष राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों के अलावा, रेलवे एक मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन भी चला रहा है। ताकि फंसे हुए प्रवासी श्रमिकों, तीर्थयात्रियों, छात्रों और पर्यटकों को उनके गंतव्य तक पहुचाया जा सके। रविवार रात तक 1,300 से अधिक श्रमिक स्पेशल ने देश के विभिन्न हिस्सों में 17 लाख से अधिक लोगों को उनके गृहराज्य पहुंचाया है। रेलवे पूरे देश में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए माल और विशेष पार्सल ट्रेनें भी चला रहा है।


मजदूरों को घर पहुंचाने में लगाए संसाधन

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि प्रवासी मजदूरों को सरकारें इंसानियत के नाते घर पहुंचाने में सरकारी शक्ति व संसाधन इस्तेमाल करें क्योंकि देश इनके ही बल पर ‘आत्मनिर्भर’ बनेगा। मायावती ने सोमवार को ट्वीट किया, “सरकारों से अपील है कि वे अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी के साथ-साथ मानवता व इंसानियत के नाते भी घर वापसी कर रहे गरीब प्रवासी मजदूर परिवारों को सुरक्षित उनके घर पहुंचाने में सरकारी शक्ति व संसाधन का पूरा इस्तेमाल करें, क्योंकि देश इनके ही बल पर ‘आत्मनिर्भर’ बनेगा।” इससे पहले उन्होंने लिखा, “औरैया की भीषण दुर्घटना में मारे गए मजदूरों व घायलों को इकट्ठा ट्रक में भरकर उनके घर भेजने की हृदयहीनता पर उभरा जन आक्रोश उचित ही है। इससे साबित होता है कि सीएम के निर्देशों को गंभीरता व संवेदनशीलता से नहीं लिया जा रहा है। अति-दु:खद। दोषियों पर सख्त कार्रवाई हो।”


उन्होंने लिखा, “इतना ही नहीं बल्कि देश में अभी भी हर जगह लाखों गरीब प्रवासी मजदूर परिवारों की बर्बादी, बदहाली व भूख-प्यास आदि के दृश्य मानवता को शर्मसार कर रहे हैं। खासकर ऐसे महाविपदा के समय में इन लोगों पर पुलिस व प्रशासन की बर्बरता को रोकना केन्द्र व राज्य सरकारों के लिए बहुत जरूरी है।”


ओप्पो की वर्कशॉप के 6 कर्मी संक्रमित

गौतम बुध नगर। ग्रेटर नोएडा  में स्थित चीनी स्मार्टफोन ब्रांड ओप्पो की फ्रैक्ट्री में कम से कम छह कर्मचारी घातक कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए हैं। कंपनी के विश्वसनीय सूत्रों ने रविवार को आईएएनएस को इसकी सूचना दी। सूत्रों के मुताबिक, ग्रेटर नोएडा के कासना में स्थित ओप्पो की फैक्ट्री में कोरोनावायरस के मामलों की पुष्टि होने के बाद रविवार को अगले नोटिस तक काम को तुरंत रोक दिया गया। नाम न बताने की शर्त पर ओप्पो के एक कर्मी ने बताया, “हमें कारखाने में न आने को कहा गया है, क्योंकि ग्रेटर नोएडा में स्थित हमारी विनिर्माण इकाई में कोविड-19 के छह मामलों की पुष्टि हुई है। कंपनी ने अगली सूचना तक हमें घर पर रहने को कहा है। ओप्पो के एक अंदरूनी पोस्ट में लिखा गया, “कल से काम पर मत आइए. हर कोई कंपनी के अगले नोटिस के इंतजार में है।”


गौतमबुद्ध नगर जिले में तेजी से बढ़ रहे मामले


बता दें कि गौतमबुद्ध नगर जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। रविवार को 8 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही जिले में कोराना संक्रमण के कुल मामले अब 255 हो गए हैं। डिस्ट्रिक्ट सर्विलांस ऑफिसर सुनील दोहरे ने बताया, “107 रिपोर्ट की जांच की गई। इनमें 99 रिपोर्ट नेगेटिव आईं, वहीं 8 पॉजिटिव नए मामले सामने आए। जो नए मामले सामने आए हैं, उसमें तीन मरीज सेक्टर-12 के निवासी हैं, जिनमें 2 पुरुष जिनकी उम्र 21 वर्ष है, वहीं एक महिला मरीज की उम्र 53 वर्षीय है।”


उन्होंने बताया, “संक्रमितों में 50 वर्षीय पुरुष जो सेक्टर-10 के निवासी हैं और दो मरीज, जिनमें 23 वर्षीय महिला और 47 वर्षीय पुरुष सेक्टर 8 नोएडा के रहने वाले हैं।”गौतमबुद्ध नगर में अब करोना संक्रमित मामलों की संख्या कुल 255 हो गई है। इनमें से 191 लोग घर जा चुके हैं और अब तकपांच लोगों की मौत हो चुकी है। इस समय 59 संक्रमितों का इलाज चल रहा है।


कोरोना चाट जाएगा, 13.5 करोड़ की नौकरी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी की वजह से अर्थव्यवस्था को हो रहे नुकसान के चलते देश में करीब 13.5 करोड़ लोगों की नौकरी जा सकती है। इतना ही नहीं, 12 करोड़ लोग गरीबी के दायरे में आ सकते हैं। महामारी का असर लोगों की आय, खर्च और बचत पर भी पड़ेगा।


अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन परामर्श कंपनी आर्थर डी लिटिल की रिपोर्ट के अनुसार, कोविड-19 का सबसे बुरा असर देश में लोगों की नौकरियों पर पड़ेगा और गरीबी बढ़ेगी जबकि प्रति व्यक्ति आय में कमी आएगी। इसके परिणाम स्वरूप सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में तीव्र गिरावट आएगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए हमारा मानना है कि भारत के लिए डब्ल्यू आकार की रिकवरी सबसे संभावित परिदृश्य है। वित्त वर्ष 2020-21 में जीडीपी में 10.8 फीसदी की गिरावट और वित्त पर्ष 2021-22 में 0.8 फीसदी की जीडीपी वृद्धि होगी। रिपोर्ट के अनुसार, देश में बेरोजगारी 7.6 प्रतिशत से बढ़कर 35 फीसदी हो सकती है। इसके चलते 13.5 करोड़ लोगों की नौकरी जा सकती है और 17.4 करोड़ लोग बेरोजगार हो सकते हैं। इतना ही नहीं, 12 करोड़ लोग गरीबी के दायरे में आ सकते हैं और 4 करोड़ लोग बहुत ही गरीबी में पहुंच सकते हैं। आर्थर डी लिटिल के भारत और दक्षिण एशिया के सीईओ और प्रबंधन पार्टनर बार्णिक चित्रन मैत्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री का आत्मनिर्भर भारत अभियान नए दृष्टिकोण के लिए अच्छी शुरुआत है। रिपोर्ट में सरकार और आरबीआई द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना की गई लेकिन अर्थव्यवस्था को हो रहे व्यापक नुकसान से बचाने के लिए और अधिक मुखर दृष्टिकोण की जरूरत बताई गई है।


रिपोर्ट में अर्थव्यवस्था की रिकवरी के लिए 10 बिंदु कार्यक्रम भी सुझाए गए हैं। इसमें छोटे और मध्यम कारोबार को बचाने, ग्रामीण अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू करने और खतरे वाले सेक्टरों को लक्षित सहायता प्रदान करना शामिल है।


अवैध बालू डंप करते चले लाठी-डंडे

पंकज पाल
खागा/फतेहपुर। बिजयीपुर थाने के रोशनपुर गांव मे कोट निवासी थाना खखरेरू इनायत खां पुत्र हेदायत खां बीती रात यमुना नदी मे काफी दिनों से अपने साथियों सहित रोशनपुर गांव मे अवैध बालू डम्प कर रहे थे। तभी रोशनपुर गांव के लोगों ने विरोध किया तो जान से मारने कि धमकी देते रहे।
गांव के लोगों ने पुलिस को जानकारी देने को कहा तो कल बीती रात इनायत पुत्र हेदायत ने अपने सभी भाई सेमैद,सदाब,इमैद पुत्र हेदायत खां,और अपने साथी शैबू पुत्र शाहिद, शोहेब पुत्र उबैद खां,दो अज्ञात के साथ रोशनपुर गांव मे अवैध असलाहों के साथ लाठी चार्ज करवाकर धावा बोल दिया ।जिससे गांव के पांच लोग गम्भीर रुप से घायल हो गये।
जानकारी के अनुसार कोट एवं चन्दनापुर गांव के बीच मे काफी दिनो से अवैध बालू का कारोबार फल फूल रहा था।दो तीन दिन से ये दबंग लोग रोशनपुर गांव मे बालू डम्प कर रहे थे ।गांव के लक्ष्मण ने मना किया तो आज बीतीरात दबंगों ने एक ही परिवार के तीन लोग कमलेश पुत्र सीताराम, लक्ष्मण पुत्र हरछट,रामू पुत्र हरछट सहित उसकी मां रोशनी देवी को लाठी डंडों से पीटने लगे तभी बीच बचाव मे आये कमलेश का सर फट गया गांव के लोगों ने पुलिस को सूचना दिया।पुलिस के पहुंचते सभी दबंग मौके से फरार हो गये।
और रास्ते मे गांव के किनारे बैंठ कर गांव का जो भी व्यक्ति मिलता पीटते रहे । जिससे गांव मे दहशत का महौल है।
थोनो थाने खखरेरू और किशनपुर कि पुलिस पहुंचने पर दबंग फरार हो गये । पुलिस ने घायल कमलेश को परिजनों द्वारा हरदों मे भर्ती करवाया 
वही किशनपुर थानाध्यक्ष ने बताया कि दो समुदायों का विवाद हुआ है। मै मौके पर पहुंच रहा हूं तहरीर मिलते है कार्यवाही कि जायेगी।


बलिया जिले में वायरस से पहली मौत

अतुल कुमार तिवारी


बलिया। इन कुछ दिनों में संपूर्ण उत्तर प्रदेश में कोरोना ने बहुत ही तेजी से लोगों को अपनी चपेट में लेना आरंभ कर दिया है। ठीक उसी क्रम में उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में कोरोना के मरीजों की संख्या जहां 10 थीं। वहीं आज बढ़ कर 12 का आंकड़ा छू चुकी है। प्राप्त समाचार के अनुसार रविवार को जो रिपोर्टें आईं हैं उनमें से 2 सैंपलों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ जाने के पश्चात अब कुल मरीजों कि संख्या 12 हो चुकी है। उक्त रिपोर्ट में कोरोना पॉजीटिव आने वाला एक व्यक्ति रसड़ा थाना क्षेत्र का और दूसरा बैरिया थाना क्षेत्र का है जिसकी पुष्टि संचारी रोग के डॉक्टर हुदा ने की है। वहीं जिले में दूसरी ओर दिव्या मिश्रा उम्र 13 वर्ष जिसकी मृत्यु कोरोना के कारण हो गई। हम आपको यह भी बता दे कि बलिया जिले में यह पहली मृत्यु है, जो कोरोना वायरस से हुई है।


विश्व: 47,13,620 संक्रमित, 3,15,185 मौतें

महावीर जैन


नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड 19) से विश्व भर में अब तक 47.13 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं जबकि इस बीमारी से 3.15 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केन्द्र (सीएसएसई) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक कुल संक्रमितों की संख्या 47,13,620 हो गयी जबकि कुल 3,15,185 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है।


भारत में भी कोरोना वायरस का संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है और यह संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित देशों की सूची में 11वें स्थान पर है। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से सोमवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक देश के 32 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना से संक्रमितों और मृतकों की संख्या में क्रमश: 5242 और 157 की बढ़ोतरी हुई है। देश में इसके संक्रमण से अब तक 96,169 लोग प्रभावित हुए हैं तथा 3029 लोगों की मौत हुई है जबकि 36,824 लोग पूरी तरह ठीक भी हो चुके हैं। सीएसएसई के आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में कोरोना वायरस से दुनिया में सर्वाधिक लोग संक्रमित हुए हैं। विश्व की महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में 14,86,515 संक्रमित हैं और 89,562 की मौत हो चुकी है।


रूस में भी कोविड-19 का प्रकोप लगातार तेजी से बढ़ रहा है और यह इस संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित होने वाले देशों की सूची में अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है। यहां अब तक 2,81,752 लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं और 2631 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। यूरोप में गंभीर रूप से प्रभावित देश इटली में इस महामारी के कारण अब तक 31908 लोगों की मौत हुई है और 2,35,425 लोग इससे संक्रमित हुए हैं। स्पेन में पिछले 24 घंटो में कोरोना संक्रमण अथवा इस बीमारी से मौत का कोई नया मामला सामने नहीं आया है। यहां कुल 230698 लोग संक्रमित हुए है जबकि 27563 लोगों की मौत हो चुकी है।इस वैश्विक महामारी के केंद्र चीन में अब तक 84,048 लोग संक्रमित हुए हैं और 4638 लोगों की मृत्यु हुई है। इस वायरस को लेकर तैयार की गयी एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन में हुई मौत के 80 प्रतिशत मामले 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के थे।


यूरोपीय देश फ्रांस और जर्मनी में भी स्थिति काफी खराब है। फ्रांस में अब तक 1,79,693 लोग संक्रमित हुए हैं और 28111 लाेगों की मौत हो चुकी है। जर्मनी में कोरोना वायरस से 176369 लोग संक्रमित हुए हैं और 7962 लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा ब्रिटेन में भी हालात लगातार खराब होते जा रहे हैं। यहां अब तक इस महामारी से 244995 लोग प्रभावित हुए हैं और अब तक 34716 लोगों की इसके कारण मौत हो चुकी है। तुर्की में कोरोना से अब तक 149435 लोग संक्रमित हुए हैं तथा इससे 4140 लोगों की मौत हो चुकी है।


कोरोना वायरस से गंभीर रूप से प्रभावित खाड़ी देश ईरान में 120198 लोग संक्रमित हुए हैं जबकि 6988 लोगों की इसके कारण मौत हुई है। ब्राजील में 16118, बेल्जियम में 9052, नीदरलैंड में 5699, कनाडा में 5903, मेक्सिको में 5177, स्वीडन में 3679, स्विट्जरलैंड में 1881, आयरलैंड में 1543 और पुर्तगाल में 1218 लोगों की मौत हो गयी है। इसके अलावा पड़ोसी देश पाकिस्तान में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 1352 मामले सामने आए तथा इस बीमारी से और 39 लोगों की मौत हो गयी। यहां अब तक के मामलों में कुल संक्रमितों की संख्या 40151 हो गयी है जबकि 873 लोगाें की मौत हुई है।


हरियाणा में 1 की मौत, संक्रमित- 910

हरियाणा में कोरोना से एक और मौत, 23 नये मामले
चंडीगढ़। हरियाणा में कोरोना संक्रमण से फरीदाबाद में एक व्यक्ति की मौत के साथ प्रदेश में महामारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 14 हो गई जबकि आज कोरोना पॉजिटिव के 23 नये मामले सामने आये। शाम को जारी प्रदेश सरकार के बुलेटिन के अनुसार फरीदाबाद में 45 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई है। कोरोना संक्रमण से प्रभावित फरीदाबाद में यह छठी मौत है। प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 334 हो गई है।
बुलेटिन के अनुसार आज सामने आये मामलों में गुरुग्राम से 11, रोहतक से 4, फरीदाबाद से तीन, पानीपत से दो और सिरसा, करनाल व महेंद्रगढ़ में एक-एक मामला सामने आया। दूसरी तरफ झज्जर में 25 और गुरुग्राम में 14 समेत 48 लोग आज ठीक होकर अस्पतालों से छुट्टी पाकर अपने घर लौटे। वैसे अब तक प्रदेश में कुल 910 लोगों को कोरोना संक्रमित पाया गया है।


उत्तराखंड में बढ़कर संक्रमितो की संख्या-93

देहरादून। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर उत्तराखंड में आज भी राहत वाली खबर नहीं है। उत्तराखण्ड राज्य के जनपद देहरादून में 01 और कोरोना का मामला सामने आया है। जिसके बाद उत्तराखंड राज्य में अब कुल मामले बढ़कर 93 हो गये हैं।


जानकारी के मुताबिक बसंत विहार निवासी महिला की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वह कुछ दिन पहले ही अपने पति के साथ महाराष्ट्र से लौटी है। 15 मई को बेटे ने बसंत विहार थाना पहुंचकर उनके पहुंचने की सूचना दी थी। जिसके बाद दोनों पति पत्नी का सैंपल लिया गया। महिला का सैंपल पॉजिटिव पाया गया है। परिवार मूल रूप से उत्तरकाशी का रहने वाला है। आपको बताते चले कि अभी तक 52 कोरोना संक्रमित लोग उत्तराखंड राज्य में ठीक हो चुके है।


मथुराघाट पर सूर्य मंदिर की भूमि पूजन

मथुरा धाम घाट पर चालीस लाख की लागत से बनेगा  सूर्यमन्दिर ,किया गया भूमिपूजन


अमृता मिश्रा


पानापुर(सारण)। गंडक नदी के किनारे प्रखंड के मथुराधाम घाट पर निर्माणाधीन सूर्यमंदिर के लिए सोमवार को भूमिपूजन किया गया।आचार्य पंडित कृष्ण बिहारी ओझा के वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मोती बाबा ने इस मंदिर के लिए भूमिपूजन किया।ग्रामीणों के सहयोग से निर्मित होने वाला यह सूर्यमंदिर मथुराधाम घाट पर स्थित तालाब के बीचोबीच बनाया जाएगा।मंदिर निर्माण से जुड़े ग्रामीणों ने बताया कि यह जिले का पहला सूर्य मंदिर होगा। ग्रामीणों ने बताया कि गत वर्ष इस घाट पर आयोजित श्रीलक्ष्मीनारायण महायज्ञ के दौरान शेष बची पांच लाख की राशि से मंदिर निर्माण की आधारशिला रखी जा रही है।


 मंदिर निर्माण के लिए  लगभग चालीस लाख रुपये  की राशि निर्धारित की गयी है जिसे जनसहयोग से पूरा किया जाएगा ।इस मौके पर जिला पार्षद प्रतिनिधि अभिषेक रंजन सिंह ,संतोष सिंह ,रूपेश सिंह सहित मंदिर निर्माण से जुड़े अन्य सदस्य उपस्थित थे।


टू व्हीलर पर दो बैठे तो कटेगा चालान

लखनऊ ।  बाइक या स्कूटी पर केवल चलाने वाला ही बैठ सकता है। पीछे की सीट पर सवारी पाए जाने पर पहले तो 250 से लेकर 1000 रुपये तक का जुर्मान...


   लखनऊ ।  बाइक या स्कूटी पर केवल चलाने वाला ही बैठ सकता है। पीछे की सीट पर सवारी पाए जाने पर पहले तो 250 से लेकर 1000 रुपये तक का जुर्माना, उसके बाद दोपहिया वाहन चालक का ड्राइविंग लाइसेंस भी निलंबित या निरस्त किया जा सकता है । मास्क पहनने, लॉकडाउन का उल्लंघन करने और दोपहिया वाहन में एक सवारी की अनुमति से संबंधित अधिसूचना महामारी नियंत्रण एक्ट के तहत जारी कर दी गई है । इसकी जानकारी चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने अपर मुख्य सचिव गृह व सूचना अवनीश अवस्थी के साथ एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में दी ।
दोपहिया वाहन पर एक सवारी की अनुमति, लाइसेंस भी हो सकता निरस्त
  प्रमुख सचिव ने बताया कि महामारी नियंत्रण एक्ट के तहत जारी अधिसूचना में दोपहिया वाहन चालाक ही अकेले वाहन चला सकेगा। पीछे बैठने की अनुमति किसी में नहीं होगी । दोपहिया वाहन में पहले बार पीछे बैठी सवारी पर 250 रुपये, दूसरी बार 500 रुपये, तीसरी बार में 1000 रुपये और उसके बाद ड्राइविंग लाइसेंस भी निलंबित या निरस्त किया जा सकता है ।
पर यह भी है अपवाद
   दोपहिया वाहन के बारे में अपवाद स्वरुप इस मामले में छूट दी गई है कि अगर महिला वाहन चलाना नहीं जानती है और  वह अपने किसी घर के सदस्य के साथ अपने कार्यस्थल जा रही है तो उसे कार्यपालक मजिस्ट्रेट की अनुमति लेकर दोपहिया वाहन के पीछे बैठना होगा । पीछे बैठी महिला के लिए हेलमेट, मास्क और ग्लव्स पहनना ज़रूरी है ।
सार्वजानिक स्थल पर थूकना भी दंडनीय -
    स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव ने बताया कि जिस तरह चेहरा चेहरा न ढंकने पर जुर्माना है, उसी तरह सार्वजानिक स्थल पर थूकने पर भी जुर्माना लगाया गया है । पहली व दूसरी बार पकड़े जाने पर 100 - 100 रुपये, तीसरी बार या उससे अधिक बार पकड़े जाने पर 500 - 500 रुपये जुर्माना लिया जाएगा । इन सभी मामलों में दण्ड वसूलने का अधिकार कार्यपालक मजिस्ट्रेट या थाने के इंस्पेक्टर को होगा।


मदद करना अपराध तो अपराधी ही सही

नई दिल्ली। कांग्रेस ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। पार्टी सरकार के लचर उपायों पर बेहद अक्रामक तरीके से उसे घेरने में लगी है। अब कांग्रेस ने मजदूरों के मुद्दे पर राजनीति करने के सरकारी आरोप को लेकर सरकार पर पलटवार किया है।
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को ट्वीट करते हुए कहा है कि सरकार और उसके नुमाइंदे गरीब प्रवासी मजदूरों के जख्मों पर राहत का मलहम लगाने के बजाय उनके घाव पर नमक छिड़कना बंद करें। सुरजेवाला ने कहाकि ये मजदूर हैं, मजबूर नहीं हैं। अगर मजदूरों का दर्द बांटना अपराध है तो हम ये अपराध हर बार करेंगे। उन्होंने कहाकि मजदूर की बेबसी सरकार को ड्रामेबाजी लगती है। मजदूरों के पांव में पड़े सैकड़ों छाले सरकार को ड्रामेबाजी दिखती है।
सुरजेवाला ने कहाकि, सरकार ने अपनी संवेदनहीनता का परिचय देकर और सरकार की मंत्री ने मजदूरों के बारे में ओछा बयान देकर मजदूरों का घोर अपमान किया है। इस संवेदनहीन सरकार को मजदूरों से माफी मांगनी चाहिए। सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी मजदूरों का दर्द बांटने गए थे। जिसे वित्त मंत्री ने ड्रामेबाजी करार दे दिया। उन्होंने कहा कि अगर अंधी और बहरी सरकारों को जगाना अपराध है तो कांग्रेस ये अपराध बार-बार करेगी।


डब्ल्यूएचओ की भूमिका पर उठे सवाल

जिनेवा, स्विटजरलैंड। दुनिया को लॉकडाउन में डालने वाले कोरोना वायरस से निपटने में विश्व स्वास्थ्य संगठन की भूमिका पर अब खुले तौर पर सवाल उठ रहे हैं। भारत सहित 62 देशों ने कोविड-19 महामारी पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रतिक्रिया को लेकर स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच की मांग की है।


विश्व स्वास्थ्य एसेंबली की सोमवार को होने वाली 73वीं बैठक के लिए तैयार प्रस्ताव में यूरोपीय यूनियन और आस्ट्रेलिया के साथ भारत ने भी कोविड-19 को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा समय-समय पर की गई कार्रवाई की स्वतंत्र, निष्पक्ष और विस्तृत जांच की मांग की है। बता दें कि आस्ट्रेलिया ने पिछले महीने कोरोना वायरस कैसे फैला इसकी जांच करने की बात कही थी। इसके बाद अमेरिका में भी इस पर चर्चा हुई। इसके साथ यूरोपीय देशों में भी अब इसकी जानकारी को लेकर बात उठ रही है। इन सब बातों को वर्ल्ड हेल्थ एसेंबली की बैठक में प्रस्ताव के तौर पर शामिल किया जाएगा।


पूर्वी दिल्ली में बाकी एग्जाम की डेटशीट

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने पूर्वी दिल्ली के इलाके में दसवीं के बोर्ड के बचे हुए पेपरों की परीक्षा के लिए आज डेट शीट जारी कर दी। सीबीएसई के अनुसार यह परीक्षाएं एक यानी पहली जुलाई, दूसरी जुलाई और 10 तथा 15 जुलाई को सुबह 10:30 बजे से 1:30 बजे तक होगी। परीक्षा के दौरान हर छात्र को मास्क पहनकर आना होगा और साथ में सैनिटाइजर भी लाना होगा। इसके अलावा परीक्षा के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन करना होगा तथा अभिभावकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनके बच्चे बीमार न हो। सीबीएसई के अनुसार एक जुलाई को सोशल साइंस की परीक्षा होगी जबकि दो जुलाई को विज्ञान की थ्योरी और विग्यान (बिना प्रैक्टिकल) के पेपर की परीक्षा होगी जबकि 10 जुलाई को हिंदी कोर्स ए और कोर्स बी की होगी तथा 15 जुलाई को अंग्रेजी कम्युनिकेशन और अंग्रेजी भाषा और लिटरेचर के पेपर होंगे।


परीक्षा के दौरान दस बजे से उत्तरपुस्तिकाएं वितरित होगी और सवा दस बजे प्रश्न पत्र दिए जाएंगे तथा साढ़े दस बजे से परीक्षा शुरू हो जाएगी। गौरतलब है कि पिछले दिनों पूर्वी दिल्ली में दंगे होने के कारण यह पेपर नहीं हो पाए थे और उसके बाद कोरोना के कारण लॉकडाउन होने से यह परीक्षाएं आयोजित नहीं की जा सकी थी लेकिन गत दिनों मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एक जुलाई से बचे पेपरों की परीक्षा करने का फैसला किया था।


दिल्ली में संक्रमण पहुंचा 10 हजार पार

नई दिल्ली। राजधानी में वैश्विक महामारी कोविड-19 से पिछले 24 घंटों में 299 नये मामले सामने आने से संक्रमण प्रभावित की संख्या दस हजार को पार कर गई और मृतकों की संख्या 160 पर पहुंच गई। राज्य के स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से सोमवार को दी गई जानकारी के अनुसार 299 नये मामलों के साथ कुल संख्या 10054 पर पहुंच गई। इस दौरान 12 मरीजों की मृत्यु से मरने वालों की कुल संख्या 160 हो गई। हालांकि सरकार के आंकड़ों में इसे कोरोना मौत नहीं दिखाया गया है।


रविवार के आंकड़ों में 19 लोगों की मौत हुई और संक्रमण से मरने वालों की संख्या 148 पर पहुंच गई थी। देश में कोरोना संक्रमण के मामले में महानगरी चौथे स्थान पर है। फिलहाल वायरस के सक्रिय मामले 5409 हैं। इस दौरान 283 मरीज ठीक हुए और अब तक 4485 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।दिल्ली में संक्रमितों में सर्वाधिक संख्या 50 वर्ष से कम आयु वर्ग में 7056 और मृतक 33 हैं जबकि 50 से 59 वर्ष उम्र के मरीज 1544 और मृतक 45 हैं। सबसे कम संक्रमित 60 वर्ष से ऊपर आयु वर्ग में 1454 और मृतक सर्वाधिक 82 है। संक्रमितों में मृतकों का प्रतिशत बढकर 1.59 प्रतिशत हो गया है।


सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ने पर सीज करें

जौनपुर।  जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने बताया है कि कल 18 मई 2020 से लॉकडाउन 4 प्रारंभ होगा और 31 मई तक चलेगा। साप्ताहिक बंदी के दिन को छोड़कर के दुकानों के खुलने की स्थिति निम्न प्रकार रहेगी। दूध, फल, सब्जी की दुकान प्रातः 07.00 बजे से शाम 07.00 बजे तक खुलेगी। खाद्यान्न और किराना की दुकान साप्ताहिक बंदी को छोड़कर प्रातः 08.00 बजे से अपरान्ह 02.00 बजे तक खुलेंगी। किताबों की दुकानें सोमवार, बुधवार और शनिवार प्रात 08.00 बजे से अपरान्ह 12.00 बजे तक खुलेंगी। खाद, बीज, पशु चारे की दुकान प्रातः 08.00 बजे से 02.00 बजे तक, बिजली के सामान मरम्मत व पंखे की दुकानें मंगलवार, बृहस्पतिवार और शनिवार को 08.00 बजे से अपरान्ह 02.00 बजे तक खुलेंगी। पेट्रोल पंप प्रतिदिन खुलेंगे। दवा की दुकानें प्रतिदिन 24 घंटे खोली जा सकती हैं। अस्पतालों को जिन्हें शासन द्वारा गठित कमेटी द्वारा उपयुक्त पाया गया है और उन्हें अनुमति दी गई है वह भी इमरजेंसी सेवाओं के लिए खोले। ग्रामीण क्षेत्र में बालू, गिट्टी और मौरग, ट्रैक्टर मरम्मत, थ्रेशिंग मरम्मत, बखारी की दुकान प्रतिदिन प्रातः 08.00 बजे से अपरान्ह 02.00 बजे तक खोली जा सकती है। शराब की दुकान शासनादेशानुसार प्रातः 10.00 बजे से शाम 07.00 बजे तक खुलेंगी। ट्यूबवेल मरम्मत के सामान, हैंडपंप मरम्मत की सामान बेचने वाली ग्रामीण क्षेत्र की दुकान भी 8.00 बजे से अपरान्ह 2.00 बजे तक खुली रहेगी। मोबाइल रिचार्ज की दुकानें सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को प्रातः 08.00 बजे से अपरान्ह 02.00 बजे तक खुलेगी। जिलाधिकारी ने निर्देश देते हुए कहा है कि सभी थानाध्यक्ष इस आदेश का अक्षरशः पालन अपने-अपने क्षेत्रों में कराएं। लॉकडाउन का उल्लंघन न हो। दुकान पर सैनिटाइजेशन नियमित रूप से हो और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो, जिस दुकान पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न हो उसे थानाध्यक्ष सीज करायें।


मजदूर वापसी के प्रति सरकार कटिबद्ध

लखनऊ। सभी प्रवासी श्रमिक सुरक्षित साधनों जैसे बस अथवा ट्रेन से ही यात्रा करें। उन्होंने पीआरवी 112 को सक्रिय करने के निर्देश दिए और कहा कि पुलिस प्रभावी पेट्रोङ्क्षलग सुनिश्चित करे। फील्ड में तैनात अफसर अन्य राज्यों से संवाद बनाकर उत्तर प्रदेश लौट रहे श्रमिकों को श्रमिक एक्सप्रेस अथवा सुरक्षित वाहनों से ही भेजने की व्यवस्था करें। प्रदेश आने वाले प्रत्येक कामगार को भोजन उपलब्ध कराया जाए। जगह-जगह पेयजल की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए। इन्हें क्वारंटीन सेन्टर ले जाकर इनकी मेडिकल स्क्रीङ्क्षनग सुनिश्चित की जाए। प्रवासी श्रमिकों को क्वारंटीन सेन्टर में रखने के दौरान ही उनकी स्किङ्क्षलग की जाए, ताकि होम क्वारंटीन पूरी होने के बाद प्रदेश में ही इन्हें रोजगार दिलाने के प्रयास अभी से प्रारम्भ किए जा सकें। श्री योगी ने कहा कि कृषि विभाग के अधिकारी गेहूं क्रय केन्द्रों पर जाकर निरीक्षण करते हुए किसानों की उपज की खरीद में सहयोग करें। खाद्य एवं रसद विभाग के अधिकारी पीडीएस से जुड़ी सभी कोटे की दुकानों का निरीक्षण करें और नागरिकों को राशन उपलब्ध करवाने में सहयोग करें।


महाराष्ट्र में कोरोना की मार, 30 हजार पार

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या 30 हजार के पार


मुंबई। देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या ने अब खतरनाक रूप ले लिया है। पिछले 24 घंटों में 3,970 नए मामले सामने आने के बाद देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 90 हजार हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के रविवार सुबह 9:15 बजे के अपडेट के मुताबिक, देश में अब तक कोरोना के 90,927 केस आ चुके हैं। इनमें 53946 एक्टिव केस हैं। 24 घंटे में 4987 केस मिले हैं। कोरोना से अब तक देशभर में 2872 मरीजों की जान जा चुकी है। राहत की बात ये है कि 34108 मरीज ठीक होकर घर भी लौटे हैं।
वहीं महाराष्ट्र में कोविड-19 के 1,606 नए मामले सामने आए, जिसके साथ राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 30 हजार के पार हो गई है। महाराष्ट्र में शनिवार को कोरोना वायरस से मुंबई में 41 मौतों सहित 67 लोगों ने जान गंवाई, जिससे राज्य में कुल मृतकों की संख्या 1,135 हो गई है। भारत सहित पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है। हर दिन नए मरीज मिल रहे हैं। इनमें जान गंवाने वाले भी हैं और ठीक होने वाले भी। इस बीमारी पर दुनियाभर के वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं और इसे जितना समझें उतना कम है। ऐसे में भारत सहित दुनियाभर की रिसर्च और डेटा को समझने के लिए हमने ये सेक्शन तैयार किया है, जिसे आप कोविड-19 का डेटा सेंटर कह सकते हैं। दुनिया में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए लोगों की संख्या के आधार पर भारत 11वें स्थान पर है। वहीं अमेरिका, रूस, ब्राजील, फ्रांस, इटली, स्पेन और पेरू के बाद भारत ऐसा देश है जहां सबसे ज्यादा संख्या में कोरोना वायरस संक्रमण के लिए लोगों का इलाज चल रहा है। लेकिन मुंबई की बात करें तो कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या कई देशों जैसे पोलैंड, यूक्रेन, इंडोनेशिया, रोमानिया, इजराइल, जापान, ऑस्ट्रिया, दक्षिण अफ्रीका, फिलीपीन, मिस्र, डेनमार्क और दक्षिण कोरिया से ज्यादा है।


हाई लेवल तक शराब घोटाले की आंच

शराब घोटाले की आंच कई एसपी और डीइटीसी तक पहुंचेगी, SITजांच शुरू, दायरा बढ़ाने की मांग


शराब घोटाले की आंच कई एसपी और डीइटीसी तक पहुंचेगी, SITजांच शुरू, दायरा बढ़ाने की मांग


हरियाणा में शराब घोटाले की जांच एसआइटी ने शुरू कर दी है। इसकी आंच कई एसपी और डीइटीसी तक पहुंचने की संभावना है। दूसरी ओर एसआइटी की जांच का दायरा बढ़ाने की मांग भी उठी है। ...


राणा ओबरॉय
चंडीगढ़। हरियाणा सरकार द्वारा गठित स्पेशल इंक्वायर टीम (एसइटी) ने प्रदेश के हर जिले में शराब घोटाले की जांच शुरू कर दी है। एसइटी ने प्रदेश के सभी जिला आबकारी एवं कराधान आयुक्तों से एक साल की रिपोर्ट तलब कर ली। इस रिपोर्ट में जिला एवं आबकारी कराधान आयुक्तों से शराब के स्टाक, ठेकेदारों को आवंटित शराब और अवैध शराब के बारे में जानकारी मांगी गई है। सभी जिलों से एसइटी के पास रिपोर्ट पहुंच चुकी है। इस पूरे प्रकरण में हरियाणा के गृहमंत्री अ‍निल विज ने कड़ा रूख दिखाया है और इसके साथ ही जांच में उपमुख्‍यमंत्री व आबकारी मंत्री दुष्‍यंत चौटाला की भूमिका पर भी खास नजर लगी है। दूसरी ओर, एसआइटी का दायरा बढ़ाने की मांग भी की जा रही है।
सभी जिलों के डीइटीसी ने रिकार्ड भेजा, पुलिस विभाग का रिकार्ड आज आने की उम्मीद
एसइटी प्रमुख टीसी गुप्ता ने सभी जिला पुलिस अधीक्षकों से भी इसी तरह की रिपोर्ट मांगी है। हर जिले के पुलिस कप्तान से पूछा गया है कि उनके जिले में कितनी शराब अवैध रूप से पकड़ी गई, उसे कहां रखा गया और कितनी शराब नष्ट हुई है। साथ ही यह रिपोर्ट देने को भी कहा गया है कि अब कितनी शराब बची हुई है और वह कहां रखी गई है। किसी भी जिले से अभी तक एसआइटी के पास पुलिस की रिपोर्ट नहीं पहुंची है। सोमवार शाम तक यह रिपोर्ट एसइटी प्रमुख के पास पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। इस शराब घोटाले की आंच कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों व जिला आबकारी एवं कराधान आयुक्तों तक पहुंचेगी।
पुलिस का रिकार्ड मिलते ही फिजिकल वैरीफिकेशन शुरू करेगी टीसी गुप्ता की कमेटी
मुख्यमंत्री मनोहर लाल के भरोसेमंद अधिकारी सीनियर आइएएस टीसी गुप्ता को शराब घोटाले की जांच सौंपी गई है। गृह मंत्री अनिल विज हालांकि चाहते थे कि अशोक खेमका को एसइटी प्रमुख बनाया जाए, लेकिन माना जाता है कि टीसी गुप्ता इतने सुलझे हुए अधिकारी हैं कि वह विज को भी नाराज नहीं होने दे रहे हैं। टीसी गुप्‍ता उन्हेंं भरोसे में लेकर चल रहे हैं। विज भी टीसी गुप्ता के नेतृत्व में काम कर रही एसइटी की वर्किंग पर संतोष जाहिर कर रहे हैं। विज ने एसइटी को फ्री-हेंड दिया है, ताकि वह शराब घोटाले की निष्पक्ष तथा बिना किसी राजनीतिक दबाव के काम कर सके।
एसइटी में सीनियर आइपीएस अधिकारी सुभाष यादव और एडीशनल आबकारी एवं कराधान आयुक्त विजय सिंह भी शामिल हैं। सुभाष यादव दबंग आइपीएस अधिकारी हैं। पुलिस के कारनामों की तह में जाने के लिए उनकी थ्योरी टीसी गुप्ता कमेटी के बहुत काम आएगी। इस कमेटी की एक औपचारिक बैठक हो चुकी है, जिसमें फिजिकल स्टाक की चेकिंग की रणनीति बनाई जा चुकी है।
हर जिले से पुलिस की रिपोर्ट आने के बाद एसइटी की दूसरी बैठक होगी, जिसमें हर जिले में शराब के स्टाक की फिजिकल वैरीफिकेशन का काम शुरू किया जाएगा। एसइटी एक अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2020 तक के शराब स्टाक की जांच करेगी। खासतौर से यह एसइटी लाकडाउन अवधि के दौरान हुए शराब घोटाले की जांच के लिए बनाई गई है।
लॉकडाउन में अवैध शराब पकडऩे के 2300 केस
हरियाणा में लॉकडाउन में अवैध तरीके से शराब बेचने व तस्करी के 2300 केस दर्ज किए गए। अलग-अलग जिलों में दर्ज हुए इन मामलों में कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया। एसइटी इन मामलों को जांच में शामिल कर सकती है। लॉकडाउन पीरियड में बेची गई शराब कहां से आई, इसकी जड़ तक भी एसइटी जाएगी।
जमीन के नीचे से निकली शराब बढ़ाएगी जांच का दायरा
खरखौदा में जमीन के नीचे से निकली अवैध शराब के बाद यह मामला और भी गंभीर हो गया है। सोनीपत के अलावा पानीपत के समालखा में भी इसी तरह से शराब चोरी हुई। फतेहाबाद, रेवाड़ी व नारनौल में भी घोटाला खुल सकता है। पुलिस व आबकारी विभाग के गोदामों की फिजिकल वैरीफिकेशन नए राज खोलेगी। एसइटी ने अगर पकड़ी गई शराब के दस्तावेजों का मिलान गोदाम में जाकर किया तो यह घोटाला बड़ा रूप लेगा।
एसइटी की जांच का दायरा बढ़ाकर किया जाए पावरफुल
हरियाणा कांग्रेस के बादली से विधायक कुलदीप वत्स ने एसइटी की जांच का दायरा बढ़ाने की मांग मुख्यमंत्री मनोहर लाल और गृह मंत्री अनिल विज से की है। कुलदीप वत्स ने विधानसभा में ब्राह्मणों को दान में मिली जमीनों को वापस करने का मुद्दा पुरजोर ढंग से उठाया था। वत्स ने कहा कि एसइटी को सिर्फ रिपोर्ट तैयार करने या फिजिकल वैरीफिकेशन की पावर तक सीमित नहीं रखना चाहिए।
उन्‍हाेंने कहा कि एसइटी इस घोटाले में शामिल नेताओं, अफसरों व ठेकेदारों के गठजोड़ का खुलासा करते हुए यह भी बताए कि उनके विरुद्ध किस तरह की कार्रवाई की जा सकती है। कुलदीप वत्स ने कहा कि प्रदेश में कई हजार करोड़ रुपये का शराब घोटाला हुआ है। लाॅकडाउन में बेची गई शराब राजनीतिक संरक्षण के बिना संभव नहीं है।
----
'जजपा सरकार में मजबूत साथी, मिल रहा सहयोग'
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हर जिले में शराब के स्टाक की जांच के आदेश अपनी पूर्व की बैठक में दे रखे हैं। एसइटी ने अपने काम की गति बढ़ा दी है और मैं एसइटी की वॄकग से पूरी तरह संतुष्ट हूं। उसे बिना किसी दबाव के काम करना चाहिए। एसइटी की रिपोर्ट के बाद सरकार तय करेगी कि क्या कार्रवाई की जानी है। कुछ स्थानों पर यह चर्चा आई थी कि डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने मुझसे एसइटी गठित करने के बारे में दो बार बात की। मुझे लग रहा था कि शायद कोई बात नहीं हुई। हो सकता है कि उन्होंने बात की हो और मैं ध्यान न दे पाया हूं। जजपा हमारी सरकार की मजबूत साझीदार है और हमें उनकी तरफ से भी जांच में पूरा सहयोग मिल रहा है।


विरोध में मजदूर, दागे आंसू गैस के गोले

अहमदाबाद। मामला अहमदाबाद के है जहां घर वापसी के लिए मजदूर सड़कों पर उतर आए। इतना ही नही मजदूरों का हुजूम आईआईएम के पास पहुंच गया। इस दौरान पुलिस और मजदूरों के बीच भिड़ंत हो गयी और जमकर पत्थरबाज़ी हुई । इसी के साथ पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी दागे।


पुलिस में दागे आंसू गैस के गोले


बताया जा रहा है कि किसी ने मजदूरों को बता दिया था कि आईआईएम के पास से बस जा रही है लेकिन जब बड़ी तादाद में लोग पहुंचे तो वहां कोई बस नही थी। इसके बाद मजदूर भड़क गए और पुलिस के साथ हाथापाई हुई।


मजदूरों ने किया जमकर हंगामा


इतना ही नही पुलिस की तरफ से आंसू गैस के गोले दागे गए। बताते चलें, की इस दौरान प्रवासी मजदूरों को लेकर कई घटनाएं सुनने में आ रही है। मजदूरों का कहना है कि अब वो गांव में रहकर गुज़ारा कर लेंगे लेकिन शहर वापस नही आएंगे।


24 घंटे में सामने आए नए 5242 मामले

नई दिल्ली। लॉकडाउन 4.0 लागू हो चुका है और इसके एक दिन पहले देश में कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटे में देश में 5242 नए केस आए हैं और 157 लोगों की मौत हुई है। यह पहला मौका है जब एक दिन में इतने ज्यादा पॉजिटिव केस आए हैं। इसके साथ ही देश में कोरोना के कुल मरीजों की संख्या 96169 हो गई है। इनमें 56316 ऐसे मरीज हैं, जिनका देश के अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है। अब तक 36,824 मरीज स्वस्थ्य हो चुके हैं जबकि मरने वालों का आंकड़ा 3029 पहुंच गया है।


मध्य प्रदेश : म.प्र. के क्ग् शिवराज सिंह चौहान ने प.बंगाल की क्ग् ममता बनर्जी को पत्र लिखकर अनुरोध किया कि वे इंदौर में रहने वाले प्रवासी कामगारों के लिए एक विशेष इंदौर-कोलकाता ट्रेन की आवश्यकता के बारे में रेल मंत्रालय को सूचित करें ताकि जो कामगार ज़्.ए. में अपने मूल स्थान पर लौटना चाहते हैं, लौट सकें। गुजरात: मुख्यमंत्री विजय रूपाणी का बयान - प्रदेश के कंटेनमेंट जोन और नॉन-कंटेनमेंट जोन के अनुसार दिशानिर्देश बनाएगा। कल जिला कलेक्टर, नगर आयुक्त ऐसे जोन की एक सूची बनाएंगे।


 


विपक्ष प्रवासी मजदूरों पर राजनीति न करें

कांग्रेस समेत विपक्ष प्रवासी मजदूरों पर राजनीति न करे
प्रवासी लोगों के लिए मिलकर काम किया जाए


नई दिल्ली। प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर हमें मिलकर काम करना होगा और मैं सोनिया गांधी से हाथ जोड़कर अपील करती हूं कि इस मुद्दे पर राजनीति न करें। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राहत पैकेज का ऐलान करते हुए पैदल घर जा रहे प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर विपक्ष को घेरा है। उन्होंने राहुल गांधी की उस तस्वीर पर भी सवाल उठाए जिसमें वह सड़क पर बैठकर प्रवासी मजदूरों से बात कर रहे थे। निर्मला ने कहा कि राहुल ने ऐसा करके उन मजदूरों का वक्त खराब किया। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, ‘विपक्षी पार्टियों से कहना चाहती हूं कि प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर हमें मिलकर काम करना होगा। सभी राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। हाथ जोड़कर सोनिया गांधी जी से कहती हूं कि हमसे बात करें और प्रवासी मजदूरों के प्रति जिम्मेदारी समझें।’ निर्मला सीतारमण से प्रवासी मजदूरों के जुड़ा एक सवाल पूछा गया था कि पीडीएस और मनरेगा के तहत जो घोषणाएं हुई हैं इनका फायदा प्रवासी मजदूर अपने घर पहुंचकर ही उठा पाएंगे। लेकिन ज्यादातर लोग अभी रास्ते में ही हैं। इसपर निर्मला आक्रमक हो गईं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने मजदूरों से अपील की थी कि वे लोग वहीं रहें जहां पर फिलहाल हैं। सरकार उनके रहने-खाने के इंतजाम की हरसंभव कोशिश कर रही। उन्होंने कहा लेकिन जब मजबूर लोग घर जाना ही चाहते थे तो केंद्र और रेलवे ने ट्रेन चलाने का ऐलान किया। रेलवे ने साफ कहा है कि ट्रेनें तैयार हैं जो राज्य जितनी ट्रेन मांगेगा उतनी दी जाएंगी। निर्मला ने आरोप लगाया कि कांग्रेस शासित और जिन राज्यों में उनके सहयोगियों की सरकार है वहां राजनीति हो रही है और ट्रेनों के लिए नहीं कहा जा रहा। निर्मला ने कहा कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी को कांग्रेस शासित राज्यों को निर्देश देना चाहिए कि वे और ट्रेनें मंगाएं।
राहुल ने मजदूरों का वक्त खराब किया, सूटकेस उठाकर साथ क्यों नहीं चले
राहुल गांधी की प्रवासी मजदूरों के साथ बैठकर बात करती तस्वीर पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तंज कसा है। घोषणा करने के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में निर्मला ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी राहत पैकेज की प्रेस कॉन्फ्रेंस को ड्रामा बताती है लेकिन असली ड्रामेबाज वह खुद है। उन्होंने कहा राहुल गांधी सड़क पर बैठकर मजदूरों से बात करके उनका टाइम खराब कर रहे थे। इससे अच्छा होता उनके बच्चे, सूटकेस को पकड़कर उनके साथ पैदल चलते।


मकान में भीषण आग, 7 लोगों की मौत

ग्वालियर। मध्य प्रदेश के ग्वालियर में भीषण आग लगने की घटना सामने आई है। इंदरगंज इलाके में सोमवार को एक मकान में आग लग गई। इस हादसे में तीन बच्चों और चार महिलाओं की मौत हो गई है। अभी भी आग पर काबू पाने की कोशिश की जा रही है। मौके पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक समेत प्रशासन के आला-अधिकारी पहुंच गए हैं। जिस घर में आग लगी वह तीन मंजिला है। घर में ऑयल पेंट की दुकान थी। इंदरगंज चौराहे पर इंदरगंज थाना से महज 100 मीटर की दूरी पर आग लगी है। रोशनी घर मोड पर तीन मंजिला घर में भीषण आग लगी जिसमें 11 लोगों को रेस्कयू किया जा चुका है। फायर बिग्रेड की 10 गाड़ीयां आग पर काबू पाने की कोशिश कर रही है। इस घर में 25 से ज्यादा लोग रहते हैं। मकान मालिक का नाम साकेत पुत्र हरिओम और श्याम बताया गया है।


आग की चपेट में आनेे से सुभी और अभी नाम की दो बच्चियों के झुलसे हुए शव बरामद हुए हैं। टोटल 7 लोगों के शव बरामद किए गए हैं। 11 लोगों को रेस्कयू कर अस्पताल पहुंचाया गया है। मौके पर इंदरगंज थाना पुलिस मौजूद है। कलेक्टर ग्वालियर और एसपी भी घटना स्थल पर पहुंचे हैं। आग लगने के कारणों का पता किया जा रहा है।


कोरोना, लॉक डाउन, 'मन की बात'

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महीने की 31 तारीख को देश से अपने मन की बात करेंगे। कोरोना संकट के बीच पीएम मोदी का यह संवाद काफी अहम माना जा रहा है। इससे पहले भी प्रधानमंत्री ने मार्च और अप्रैल महीने में 'मन की बात' की थी। प्रधानमंत्री ने सोमवार को ट्विटर के जरिए लोगों से इस कार्यक्रम को लेकर सुझाव मांगे। उन्होंने कहा कि मैं आप सभी के सुझावों का इंतजार करूंगा। देश में जारी कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31 मई को रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए देशवासियों को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर लिखा '31 मई को होने वाले मन की बात कार्यक्रम के लिए मैं आपके सुझावों का इंतजार करूंगा। इसके लिए आप 1800-11-7800 पर संदेश रिकॉर्ड करके भेज सकते हैं। साथ ही नमो एप या माईगॉव पर भी लिखकर भेज सकते हैं। बता दें कि कोरोना महामारी के मद्देनजर देश में जारी लॉक डाउन के बीच प्रधानमंत्री तीसरी बार देशवासियों को मन की बात के जरिए संबोधित करेंगे।


तूफान का खतरा, पीएम की हाईलेवल मीटिंग

नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवाती तूफान 'अम्फन' ने सोमवार को खतरनाक रूप ले लिया। चक्रवात अम्फन की स्थिति की समीक्षा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम 4 बजे गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के साथ बैठक करेंगे। इस तूफान के कारण अब ओडिशा के तटीय इलाकों में तेज हवाएं चलने के साथ ही भारी बारिश हो सकती है। इस चेतावनी के बाद राज्य सरकार 11 लाख लोगों को इन इलाकों से निकालने की तैयारी में जुट गई है।


'लॉक डाउन' की गाइडलाइन मेंं प्रतिबंधित

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते देशव्यापी संकट के मद्देनजर गृह मंत्रालय ने 31 मई तक लॉक डाउन बढ़ाने का फैसला किया है। चौथे चरण में राज्यों को ज्यादा अधिकार दिए गए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इसके लिए आदेश जारी कर दिया है। साथ ही इस दौरान दी जाने वाली छूट और प्रतिबंधों के लिए नई गाइडलाइंस भी जारी की हैं। बता दें कि केंद्र सरकार ने लगातार तीसरी बार लॉक डाउन बढ़ा दिया है। 18 मई से 31 मई तक लॉक डाउन 4 लागू रहेगा। राज्य ग्रीन, ऑरेंज, रेड जोन के साथ बफर और कंटेनमेंट जोन तय कर सकेंगे। कंटेनमेंट जोन छोड़कर अन्य क्षेत्रों में राज्य बिना रोक वाली गतिविधियों और दुकानें खोलने की मंजूरी दे सकेंगे। सोमवार से लॉक डाउन 4.0 देश भर में प्रभावी हो गया है। लॉक डाउन 3.0 की मियाद रविवार 17 मई को खत्म हो चुकी है। गृह मंत्रालय की ओर से जारी दिशानिर्देश के अनुसार राज्य दुकान, बाजार, व्यावसायिक स्थलों पर काम के लिए अलग-अलग समय तय कर सकेंगे। कंटेनमेंट जोन में जरूरी सेवाओं को अनुमति होगी। रात सात से सुबह सात बजे तक आवाजाही पर रोक रहेगी।


 
गाइडलाइंस में क्या-क्या रहेगा प्रतिबंधित ?
1. देश भर में सिर्फ घरेलू एयर एंबुलेंस, सुरक्षा कारणों या गृह मंत्रालय की अनुमित पर ही हवाई यात्रा की जा सकेगी। सभी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें पूरी तरह बंद रहेंगी।
2. देश भर में स्कूल, कॉलेज और सभी प्रकार के शिक्षण संस्थान 31 मई तक बंद रहेंगे। इस दौरान ऑनलाइन क्लासेस और डिस्टेंस लर्निंग की व्यवस्था जारी रहेगी।
3. सभी होटल, रेस्टोरेंट, बार और अन्य सभी हॉस्पिटेलिटी सेवाएं प्रतिबंधित रहेंगी। आवश्यक सेवाओं में लगे लोगों या कहीं फंसे लोगों के लिए इसमें छूट दी जाएगी।
4. होम डिलीवरी के लिए रेस्टोरेंट अपना किचन चालू रख सकते हैं।
5. सभी सिनेमा घर, शॉपिंग मॉल, जिम, स्विमिंग पूल, इंटरटेनमेंट पार्क, थियेटर, ऑडिटोरियम, मीटिंग हॉल बंद रहेंगे।
6. स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स और स्टेडियम को खोलने की अनुमति दे दी गई है लेकिन इनमें दर्शकों को जाने की छूट नहीं है।
7.सभी प्रकार की सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक या धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजन की अनुमित नहीं होगी।
8. सभी प्रकार के मंदिर-मस्जिद और धार्मिक स्थल पूरी तरह बंद रहेंगे। 
9. देश भर में कहीं भी किसी प्रकार के धार्मिक जुटान की इजाजत नहीं होगी।


पाक पीओके में बिछा रहा है बारूदी सुरंग

नई दिल्ली। भारत-पाकिस्तान के बीच हालिया उपजे तनाव के चलते पाकिस्तान ने पीओके में सैन्य गतिविधियां तेज कर दी हैं। नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पीओके में व्यापक पैमाने पर बारूदी सुरंगें बिछाने का काम युद्धस्तर पर किया जा रहा है। इसके साथ ही पाकिस्तान ने एंटी माइनिंग शू की खरीदारी भी शुरू कर दी है। एक सप्ताह में इन शू की डिलीवरी करने का टेंडर जारी किया गया है। खुफिया एजेंसी से जुड़े सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने एंटी माइन शू की खरीदारी के लिए आपातकालीन टेंडर जारी किया है। 8 मई को सुबह साढ़े 10 बजे तक टेंडर जमा कराए गए। इसी दिन टेंडर खोला गया और 15 मई तक इन सामानों की आपूर्ति करने को कहा गया। एक सप्ताह में सामान की आपूर्ति करने की जल्दबाजी कुछ और इशारा करती है। सूत्रों के अनुसार, एलओसी पर पाकिस्तान सैन्य पोस्टों के आसपास काफी तेजी के साथ बारूदी सुरंगें बिछा रहा है। 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से पड़ोसी देश की ओर से इस प्रकार के प्रयास बचाव में शुरू किए गए थे। लेकिन मौजूदा समय में इसमें तेजी लाई गई है। पुंछ जिले के उस पार कृष्णाघाटी, कीरनी फारवर्ड, साब्जियां, करमाडा व चक्का दा बाग, राजोरी जिले के नौशेरा के झंगड़ एवं अखनूर केरी बट्टल इलाके में भौगोलिक परिस्थितियों के अनुसार पाकिस्तान की पकड़ कमजोर मानी जाती है। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान उन इलाकों में ज्यादा बारूदी सुरंगें बिछा रहा है जहां से भारत की पहुंच आसान है और भारतीय सीमा से पीओके की दूरी काफी कम है। ऐसे इलाके भी चिह्नित किए गए हैं जहां से वाहनों का आना-जाना आसान हो। इसमें राजोरी, पुंछ, बारामुला, बांदीपोरा व कुपवाड़ा जिले के उस पार के इलाके शामिल हैं। पाकिस्तान इन इलाकों में गश्त के दौरान अपने सैनिकों को एंटी माइन शू उपलब्ध कराएगा, ताकि किसी प्रकार का जानी नुकसान कम हो सके। पाकिस्तान की ओर से बिछाई गई बारूदी सुरंगों में पीओके में कई लोगों की जान भी जा चुकी है। सूत्रों के अनुसार, इधर बीच कई ऐसे घटनाक्रम हुए हैं जिससे पाकिस्तान बुरी तरह घबराया हुआ है। भारत की ओर से गिलगित-बाल्टिस्तान का मौसम जारी करने, हंदवाड़ा में कर्नल के शहीद होने और बलूचिस्तान में विरोध के स्वर तेज होने से वह अपने को घिरा महसूस कर रहा है। हंदवाड़ा मुठभेड़ में इसी महीने सेना के कर्नल के शहीद होने के बाद भारत की ओर से जवाबी कार्रवाई के भय से पाकिस्तान ने अपनी सीमा में हवाई गश्त भी तेज कर दी है। एलओसी पर पाकिस्तानी विमानों की आवाजाही बढऩे को सेना ने पिछले दिनों नोटिस किया था।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मई 19, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-282 (साल-01)
2. मंगलवार, मई 19, 2020
3. शक-1943, ज्येठ, कृष्ण-पक्ष, तिथि- द्वादशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:45,सूर्यास्त 07:05।


5. न्‍यूनतम तापमान 22+ डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...