गुरुवार, 1 अक्तूबर 2020

आईपीएलः क्रिकेट लीग में बड़ा बदलाव

आईपीएल की वजह से इस बड़ी क्रिकेट लीग पर हुआ बड़ा बदलाव, जानिए क्या है वजह ?


नई दिल्ली। आईपीएल सीजन-13 का आयोजन इन दिनों यूएई में जारी हैं। जहां हर दिन एक से बढ़कर एक रोमांचक और हाईवोल्टेज मुकाबलों का दौर भी जारी है, आईपीएल दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग है, और इस लीग में दुनिया के हर क्रिकेटर के खेलने का सपना होता है, दुनिया का बड़े से बड़ा क्रिकेटर आईपीएल में खेलना चाहता है, और अपने खेल का जौहर दिखाना चाहता है। आईपीएल सीजन-13 का आगाज यूएई में 19 सितंबर से हुआ है, जो 10 नवंबर तक चलेगा, मतलब आईपीएल सीजन-13 का फाइनल मैच 10 नवंबर को खेला जाएगा।
अब इसी आईपीएल की वजह से श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने लंका प्रीमियर लीग एलपीएल के डेब्यू सीजन के तारीखों में एक बार फिर बदलाव किया है, बता दें कि लंका प्रीमियर लीग की शुरुआत पहली बार श्रीलंका में होने जा रहा है, जो पहले 28 अगस्त से 20 सितंबर के बीच खेला जाना था, लेकिन अब इसकी शुरुआत 21 नवंबर से की जाएगी, ये तीसरा मौका है, जब लंका प्रीमियर लीग के शेड्यूल में बदलाव किया गया है। और श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड को आईपीएल की वजह से अपने शेड्यूल में ये बड़ा बदलाव करने पर मजबूर होना पड़ा है।
श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के मुताबिक ऐसा इसलिए किया गया है जिससे आईपीएल में हिस्सा ले रहे खिलाड़ियों को एलपीएल की शुरुआत से पहले क्वारंटीन होने का वक्त मिल सके।
एलपीएल ने इसे लेकर बयान भी जारी किया है जिसमें कहा गया है कि चूंकि आईपीएल 10 नवंबर तक चलेगा, इसलिए हमने सोचा कि आईपीएल में हिस्सा लेने वाले उन खिलाड़ियों के लिए कुछ समय रखी जाए, जो टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए एलपीएल में खेलना चाहते हैं।
गौर करने वाली बात है कि अगर एलपीएल की शुरुआत पहले 14 नवंबर से होनी थी, अगर तय समय पर ये लीग शुरु होती तो आईपीएल में जो दुनियाभर के दिग्गज क्रिकेटर हिस्सा ले रहे हैं, वो एलपीएल के शुरुआती मैचेस में हिस्सा नहीं ले पाते।
एलपीएल टूर्नामेंट खिलाड़ियों का ड्रॉफ्ट पहले एक अक्टूबर को निकलना था, लेकन अब इसे बढाकर 9 अक्टूबर कर दिया गया है, इनमें क्रिस गेल, डैरेन सैमी, डैरेन ब्रावो, शाहिद आफरीदी, कोलिन मुनरो, मुनाफ पटेल और रवि बोपारा जैसे खिलाड़ी शामिल हैं। जानिए एलपीएल के बारे मेंः एलपीएल लंका प्रीमियर लीग को श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड शुरू करने जा रहा है, ये पहला मौका है जब श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड इस लीग को शुरू कर रहा है, इसमें 5 फ्रेंचाईजी टीम हिस्सा लेंगी, हर फ्रेंचाईजी अपनी टीम में 19 खिलाड़ी रख सकेंगी, जिसमें 6 विदेशी और 13 श्रीलंकाई खिलाड़ी होंगे। ये लीग 23 मैचों की खेली जाएगी, हलांकि कोरोनाकाल की वजह से इस लीग के आयोजन की तारीखों में कई बार बदलाव हो चुका है।               


पेट्रोल-डीजल के भाव बनी रही स्थिरता

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ। गुरुवार को आज दिल्ली में पेट्रोल का भाव 81.06 रुपये और डीजल का भाव 70.63 रुपये प्रति लीटर रहा। लेकिन बता दें कि महीने की शुरुआत से ही कई बार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कटौती की गई है। दरअसल पेट्रोल डीजल के भाव में नरमी का मुख्य कारण कच्चे तेल की कीमतों में कमी है।वैश्विक ईंधन बाजार में कच्‍चे तेल के भाव में तेज गिरावट आई है। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के मुताबिक 01 अक्टूबर 2020 को दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, मुंबई समेत प्रमुख शहरों में डीजल और पेट्रोल के रेट इस प्रकार रहे।         


देश में मानसून की विदाई हुई जारी

देश से मानसून की विदाई, जाते- जाते भी झूमकर हो रही बारिश, सामान्य से नौ फीसदी ज्यादा बारिश, इस साल सामान्य रहेंगी सर्दियां, लेकिन कई इलाकों में शीत लहर और बर्फबारी अक्टूबर- नवंबर माह में।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। देश से अब मानसून विदाई ले रहा है। लेकिन जाते-जाते भी कई राज्यों में झमा झम बारिश का दौर जारी है। हालाँकि इस बार पिछले साल की तुलना में सामान्य से ज्यादा बारिश दर्ज की गई। कई सालों बाद यह पहला मौका है जब उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश की सरहद पर स्थित बुंदेलखंड में सामान्य बारिश हुई। यह इलाका पिछले कई सालों से सूखा ग्रस्त रहा है। पिछले 120 सालों में यह 19वां साल है जब 109 फीसदी या उससे ज्यादा बारिश देश के विभिन्न इलाकों में पड़ी हो। जानकारों की माने तो 61 साल बाद ऐसा हुआ है कि लगातार दो सालों तक मानसून में बारिश सामान्य से ज्यादा दर्ज की गई हो।
जानकारी के मुताबिक पिछले साल 2019 में 110 फीसदी ज्यादा बारिश दर्ज की गई थी। जबकि 2020 में बारिश का आंकड़ा 109 फीसदी रहा। इससे पहले साल 1958 में 109.8 फीसदी और 1959 में 114.3 फीसदी बारिश दर्ज की गई थी। इसके अलावा साल 1916 में 110 फीसदी और 1917 में 120 फीसदी से ज्यादा बारिश दर्ज की गई थी।
यही नहीं इस बार देश के 36 में से 31 सब डिविजन में सामान्य से ज्यादा बारिश देखी गई। इस साल के मानसून सीजन में अगस्त महीने में सबसे ज्यादा बारिश देखी गई। चार महीने रहे मानसून में अगस्त महीने में 27 फीसदी बारिश दर्ज की गई। इस बार मानसून की वापसी लगभग 15 दिनों की देरी से हो रही है। मानसून की विदाई की तारीख सामान्य तौर पर 17 सितंबर होती है लेकिन इस बार मानसून ने जाने में देरी कर दी। इस साल ये विदाई की प्रक्रिया 28 सितंबर को राजस्थान और पंजाब से शुरू हुई। पूरे देश से मानसून की विदाई की सामान्य तारीख 15 अक्तूबर है।
मौसन वैज्ञानिक आर के जेनामनी के मुताबिक निसर्ग तूफान ने मानसून को जमीन क्षेत्र में खींचने और एक जून को ही दस्तक देने में मदद की। सामान्य तौर पर पूरे देश में मानसून आठ जुलाई को आता है लेकिन इस बार 26 जून को ही मानसून ने दस्तक दे दी। जुलाई में बंगाल की खाड़ी में मानसूनी विक्षोभ के पैदा ना होने से बारिश में काफी कमी देखी गई। मौसम विभाग ने जानकारी दी कि अगस्त के आखिर से प्रशांत महासागर में कमजोर ला-नीना और जुलाई से हिंद महासागर में न्यूट्रल आईओडी बनाया हुआ है। विभाग ने बताया कि अक्तूबर से दिसंबर तक यही स्थिति बनी रहने की संभावना है, इसलिए इस बार सर्दियां सामान्य रहेंगी।
मौसम वैज्ञानिक बताते है कि इस बार सर्दी सामान्य रहेगी लेकिन कई हिस्सों में शीत लहर का प्रकोप अक्टूबर माह के अंतिम हफ्ते से ही शुरू हो जायेगा। उनके मुताबिक पहाड़ी इलाकों में इस बार पहली की तुलना में बर्फ़बारी जल्द शुरू हो सकती है। उनका मानना है कि कुछ इलाकों में तो अक्टूबर – नवम्बर माह में ही पहली बर्फबारी नजर आ सकती है।             


31 अक्टूबर तक यात्राओं पर प्रतिबंधः कनाडा

कनाडा में यात्रा पर प्रतिबंध की अवधि 31 अक्टूबर तक बढ़ाई।


ओटावा। कनाडा ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के मद्देनजर विदेशियों की यात्रा पर लगायी गयी पाबंदी की अवधि 31 अक्टूबर तक बढ़ा दी है। सार्वजनिक सुरक्षा मंत्री बिल ब्लेयर ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट कर कहा, हम अमेरिकी नागरिकों को छोड़ कर विदेशी नागरिकों की कनाडा में आने पर लगायी गयी पाबंदी की अवधि 31 अक्टूबर तक बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह आदेश कुछ अमेरिकी नागरिकों, संघीय सरकार द्वारा अनुमति प्राप्त किये अस्थायी विदेशी श्रमिकों तथा कुछ निजी व्यक्तियों जैसे राजनयिक तथा विमानों के क्रू मेंबर पर लागू नहीं होगा।               


आगराः 15 अक्टूबर तक स्कूल बंद किए

आगरा। कोरोनो वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर आगरा जिला प्रशासन ने धार्मिक स्थलों और शैक्षणिक संस्थानों को 15 अक्टूबर तक बंद रखने का फैसला किया है। स्कूल और कॉलेज प्रबंधन ने उम्मीद जताई थी कि सामान्य कक्षाएं 1 अक्टूबर से शुरू हो जाएंगी, लेकिन ऐसा नहीं हूंं। मंदिरों के पुजारी इस बात से निराश हैं कि अधिमास में उन्हें पूजा पाठ करने की अनुमति नहीं होगी। बता दें कि अधिमास तीन साल में एक बार आता है और ये अशुभ माना जाता है।इस बीच, आगरा में कोरोना वायरस के 57 नए मामले सामने आए, जिसके बाद यहां कुल मामलों की संख्या 5,760 हो गई, जिसमें से 4,875 मरीज ठीक हो गए हैं। जिले में अब तक कोविड-19 से 127 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि सक्रिय संक्रमितों की संख्या 758 है।               


बेटियों पर बड़े अत्याचार का किया विरोध

अधिवक्ता संघ ने मार्च निकालकर कानून-व्यवस्था और बेटियों पर हो रहे हमलों पर जताया विरोध।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। अधिवक्ता संघर्ष समिति के बैनर तले आज वकीलों ने प्रदेश की कानून-व्यवस्था में गिरावट और बेटियों की सुरक्षा को लेकर मार्च निकाला। गाजियाबाद बार एसोसिएशन कार्यालय में चौ. चरण सिंह की प्रतिमा से शुरू होकर यह मार्च कलेक्ट्रेट पहुंचा, जहां प्रशासनिक अधिकारियों को एक ज्ञापन सौंपा गया। राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन में वकीलों ने प्रदेश की बिगड़ती कानून-व्यवस्था और बेटियों पर हो रहे हमलों को लेकर राष्ट्रपति से हस्तक्षेप की मांग की गई। समिति के सदस्य नाहर सिंह यादव ने कहा कि हाथरस की घटना में पुलिसकर्मियों को सजा देने के बजाय सरकार उन्हें बचाने में लगी हुई है। ऐसी निकम्मी सरकार को तुरंत बरखास्त किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हाथरस के बाद बलरामपुर और बुलंदशहर में भी बेटियों के साथ बलात्कार की घटनाएं हो गई है। इसके लिए प्रदेश की भाजपा सरकार जिम्मेदार है। वकीलों ने आरोपियों की संपत्ति को कुर्क करने और इन मामलों की सुनवाई प्रदेश से बाहर की कोर्ट में कराने की भी मांग की है।               


भिड़ंत में फिर 2 लोग गंभीर घायल हुए

अतुल त्यागी


भिड़ंत में बाइक सवार दो लोग गंभीर रूप से हुए घायल। 


हापुड़। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को 108 की मदद से कराया पास के निजी अस्पताल में भर्ती।
घायलों की हालत नाजुक होने पर किया मेरठ मेडिकल के लिए रेफर। थाना धौलाना क्षेत्र के दौलतपुर डीकरी रजवाहे के पास की घटना।


अफवाहें कैसी-कैसी ? 'संपादकीय'

अफवाहें कैसी-कैसी ?     'संपादकीय'
कोविड-19 कोरोना वायरस के कारण ब्रह्मांड में अफरा-तफरी मची हुई है। ठंडे क्षेत्र अथवा राष्ट्र के लिए यह बहुत कष्ट कारक सिद्ध होगा। कोरोना वायरस को लेकर अलग-अलग तरह की अफवाहें फैल रही है। जिसमें सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि अब मच्छरों से भी संक्रमण फैल रहा है।
 यह एक मोनोपोली है जिसके तहत देश की अधिकांश जनता को पीड़ा और समस्याओं में जीवन यापन करना पड़ रहा है। किंतु उसके बावजूद भी देश का प्रत्येक नागरिक शासन और प्रशासन में विश्वास रखते हुए आगे बढ़ रहा है। लॉकडाउन जैसी व्यवस्था प्रतिस्थापित करने के बाद देश में अपराध इस हद तक बढ़ गया है। जिसका शायद देश के किसी नागरिक को भी अनुमान नहीं था। देश में सामूहिक दुष्कर्म, उसके बाद सामूहिक दुष्कर्म, उसके बाद नाबालिगों से सामूहिक दुष्कर्म और प्रशासनिक व्यवस्था का वास्तविक चेहरा देखकर प्रत्येक व्यक्ति का हृदय विचलित और विभोर होना स्वभाविक है। देश की आर्थिक व्यवस्था किस अवस्था से गुजर रही है, यह बात शायद किसी से छिपी नहीं है ? देश का प्रत्येक नागरिक इस बात के प्रति चिंतित है। देश के राष्ट्रपति को जन्मदिन की शुभकामना दी गई है। लेकिन राष्ट्रीय समस्याओं को लेकर किसी प्रकार का कोई मनन नहीं किया जाता है। केवल नीतियों को जनता पर लादने का कार्य किया जा रहा है। क्या भारत की जनता नरेंद्र मोदी की गुलाम है ? शायद इस गलतफहमी को पालने की गलती देश के प्रधानमंत्री ने कर ली हैं। देश की जनता लोकतांत्रिक व्यवस्था में निर्मित संविधान के अनुसार सहयोग कर रही है। देश में जनता का शासन है, जनता को पीड़ित करने के लिए किसी को शासक नहीं बनाया जाता है, यही लोकतांत्रिक व्यवस्था का सिद्धांत होता है। इसके बावजूद देश में अपराधिक गतिविधियां किस प्रकार से और किस दर से बढ़ रही है ? इसके अनुपात को देखकर मन भयभीत हो जाता है। इस प्रकार की सरकार जो महिलाएं, युवती और नारी समाज के प्रति समर्पित भाव के अनुसार कार्य नहीं कर रही है। ऐसी सरकार से क्या उम्मीद, क्या अपेक्षा की जा सकती है ? देश की जनता न सोई हुई है और न मुर्दा है। इसके बावजूद भी समर्पण की भावना के साथ देश के शासकों के साथ खड़ी हुई है। आखिर किस प्रकार के दंड का दंश जनता झेल रही है। सरकार की उदारवादी नीतियां राष्ट्र के कष्ट का कारण बनेगी। 
राधेश्याम 'निर्भयपुत्र'                  


दशहराः उत्सव नहीं होगा, ना बड़ा आयोजन

इस बार दशहरा उत्सव में नहीं होगा कोई बड़ा आयोजन, प्रतीकात्मक रूप से रावण के पुतले का होगा दहन।


सुप्रिया पांडे


रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में इस बार दशहरा उत्सव में कोई बड़ा आयोजन होने का आसार नजर नहीं आ रहा है। जिला प्रशासन के साथ देर शाम रावण दहन समिति के पदाधिकारियों की हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि दशहरा उत्सव का कोई बड़ा आयोजन नहीं होगा, बल्कि प्रतीकात्मक रूप से पुतला दहन का कार्यक्रम किया जाएगा।
डब्ल्यूआरएस कॉलोनी के मैदान में रावण के पुतले का कद भी घटा दिया जाएगा। कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतले इस बार नजर नहीं आएंगे। परंपरा को बनाए रखने के लिए पूजा पाठ के साथ प्रतीकात्मक पुतला का दहन होगा। बता दें कि हर बार डब्ल्यूआरएस मैदान में भव्य कार्यक्रम किया जाता था।
इस मामले में एडीएम विनीत नंदनवार ने बताया कि सभी प्रमुख समितियों के साथ बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें से कुछ ने रावण दहन न करने का फैसला लिया है। साथ ही कुछ लोगों ने प्रतीकात्मक रूप से पुतला दहन करने का फैसला लिया है। आज शाम तक व्यापारी लैटर पैड में जिला प्रशासन को अपनी राय देंगे। उसके बाद आदेश जारी किया जाएगा।             


सोने-चांदी में फिर आई भारी गिरावट

नई दिल्ली। सोने-चांदी की कीमतों में सुबह अच्छी-खासी गिरावट देखी गई है। एमसीएक्स पर दिसंबर का सोना वायदा 0.5 फीसदी गिरकर 50,386 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। तीन दिनों में यह सोने की दूसरी गिरावट है। वहीं चांदी की बात करें, तो एमसीएक्स पर चांदी वायदा दो फीसदी लुढ़ककर 61,267 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गई। पिछले सत्र में, सोना एक फीसदी यानी लगभग 500 रुपये बढ़ गया था, जबकि चांदी 1,900 रुपये प्रति किलोग्राम महंगी हुई थी। सात अगस्त के 56,200 रुपये की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने के बाद सोने में काफी उतार-चढ़ाव आया है। इस हफ्ते की शुरुआत में यह 49,500 रुपये से नीचे चला गया था।                  


अखरोट सेहत के लिए है बहुत गुणकारी

अखरोट में कई प्रोटीन्स, विटामिन्स, फैट्स और मिनरल्स पाए जाते हैं जो शरीर को पोषण प्रदान करने में कारगर होते हैंअखरोट शरीर में थर्मोजेनिक प्रभाव पैदा करता है, जिससे हृदय की धमनियों में जमा हुआ वसा घुलनशील अवस्था में आकर धीरे-धीरे समाप्त हो जाता है। इस तरह से आपके हृदय को शरीर में रक्त संचार के लिए अधि‍क मेहनत नहीं करनी पड़ती।अखरोट में प्राकृतिक मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके अलावा इसमें जिंक, कॉपर, फास्फोरस, आयरन और कैल्शि‍यम जैसे तत्व भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं जो आपके शरीर के आंतरिक अंगों को पोषि‍त कर उन्हें बेहतर तरीके से कार्य करने के लिए प्रेरित करते हैं।अखरोट की 100 ग्राम मात्रा में लगभग 600 कैलोरी होती है। इसे खाने से शरीर को अत्यधि‍क एनर्जी मिलती है। आपके जानकर आश्चर्य होगा कि यह वजन घटाने के लिए भी बेहतरीन है, क्योंकि इसकी थोड़ी मात्रा भी आपको विटामिन पी, एफ, सी, विटामिन बी9, बी2 और विटामिन ए मिलता है, वह भी भरपूर एनर्जी के साथ।इन सभी विटामिन और मिरनल्स के अलावा अखरोट फैटी एसिड, ओमेगा 3 और ओमेगा 6 का भी एक बेहतरीन स्त्रोत है, जो आपके मस्तिष्क के अंगों के लिए फायदेमंद है और यादददाश्त बढ़ाने में मदद करते हैं।               


ना झुकेंगे के हटेंगे, हक लेकर रहेंगे

‘ना झुकेंगे ना हटेंगे, अपना हक लेकर रहेंगे’ – लोहिया पार्क के निवासियों का धरना अविरल जारी।


अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। नंदग्राम के लोहिया विहार और शांति नगर में गाज़ियाबाद नगर निगम राजनीतिक ट्रेनिंग सेंटर बनाने के लिए घर तोड़ने की कार्रवाई कर रहा है। लोहिया विहार एवं शांति नगर के लोगों ने भी निगम की इस कार्रवाई के विरोध में मोर्चा खोल दिया है। वार्ड-6 की पार्षद मायादेवी की अगुवाई में दोनों कॉलोनियों के लोग बुधवार से अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं। लोगों का कहना है कि जब तक उनकी मांगें नहीं मान ली जाती, वे ना तो झुकेंगे और ना ही धरने से हटेंगे। गौरतलब है कि नंदग्राम में 101 मकानों पर ध्वस्तीरकण की तलवार लटकी है।
राजनीतिक प्रशिक्षण केंद्र बनाने के लिए पहले चरण में ग्यारह मकानों को तोड़ा जाना है। नगर निगम साफ कर चुका है कि ये मकान हर कीमत पर तोड़े जाएंगे। उधर, कालोनी के लोग लगातार इसका विरोध कर रहे हैं। बुधवार से लोहिया विहार और शांति नगर के लोगों ने धरना भी शुरू कर दिया है। धरने की अगुवाई कर रहीं पार्षद मायादेवी का कहना है कि हम किसी भी कीमत पर अपना हक नहीं छोड़ेंगे, चाहे नगर निगम का बुलडोजऱ उनके ऊपर से गुजऱे, वे धरने से नहीं हटेंगे।
पार्षद मायादेवी ने कहा कि कॉलोनी के लोगों ने जमीन नगर निगम से नहीं खरीदी बल्कि किसानों से जमीन को खरीदा गया है। अगर कॉलोनी की जमीन एलएमसी की है तो उसमें नगर निगम के अधिकारी दोषी हैं। उन्होंने कहा कि लोहिया विहार और शांति नगर की जमीन की रजिस्ट्री तहसील में कराई गई, नगर निगम यहां के मकानों से हाऊस टैक्स वसूल रहा है, खड़ंजे और सड़कें नगर निगम ने ही कालोनी में बनाई हैं। बिजली के खंभे लगाकर बिल वसूले जा रहे हैं। आज बीस साल बाद नगर निगम को याद आ रहा है कि कालोनी एलएमसी की जमीन पर बसी हुई है।
मायादेवी ने कहा है कि लोहिया विहार और शांतिनगर के लोगों को जमीन के बदले जमीन दी जाए। जिन लोगों के मकान तोड़े गए हैं, उन्हें मुआवजा दिया जाए। कोई भी अन्य कीमत उन्हें कबूल नहीं है। इस दौरान धरनास्थल पर बैठे लोग नगर निगम विरोधी नारे भी लगाते रहे हैं।             


'ट्विटर किलर' ने 9 हत्याओं की बात कबूली

टोक्यो। जापान की एक अदालत में 'ट्विटर किलर' ने नौ लोगों की हत्या की बात कबूल कर ली, यह जानकारी स्थानीय मीडिया ने दी है। शख्स ने बुधवार को कोर्ट में हत्या की बात को कबूल कर लिया, लेकिन 29 साल के ताकाहिरो शिरीषी के वकीलों ने कहा कि उस पर लगे चार्ज को कम करना चाहिए, क्यों कि उसने उन्हीं लोगों को मारा था, जिन्होंने सोशल मीडिया पर खुद आत्महत्या की इच्छा जताई थी।                


हाथरस कांड में सुप्रीम कोर्ट करें कार्रवाई

हाथरस कांड में सुप्रीम कोर्ट करे कार्रवाई: बसपा।


लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी(बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने हाथरस दुष्कर्म कांड में उच्चतम न्यायालय से कार्रवाई करने की मांग करते हुए गुरुवार को कहा कि दुष्कर्म पीडिता के शव को उसके परिजनों को नहीं सौंपना राज्य सरकार और पुलिस की भूमिका में सन्देह पैदा करता है।
मायावती ने यहां कहा कि उत्तरप्रदेश पुलिस द्वारा दलित पीड़िता के शव को उसके परिवार को न सौंपकर उनकी मर्जी के बिना और उनकी गैर-मौजूदगी में ही कल आधी रात को अन्तिम संस्कार कर देना लोगों में काफी संदेह तथा आक्रोश पैदा करता है। बसपा पुलिस के ऐसे गलत रवैये की कड़े शब्दों में निन्दा करती है।
उन्हाेंने कहा, " अगर माननीय उच्चतम न्यायालय इस संगीन प्रकरण का स्वयं ही संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई करे तो बेहतर होगा, वरना इस जघन्य मामले में उत्तरप्रदेश सरकार तथा पुलिस के रवैये से ऐसा कतई नहीं लगता है कि गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद भी उसके परिवार को न्याय तथा दोषियों को कड़ी सजा मिल पाएगी।"               


पंजाबः ट्रैक्टर रैलियों का नेतृत्व करेंगे राहुल

राणा ऑबरॉय


चंडीगढ़। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में लागू किए गए कृषि कानूनों का विरोध करने के मद्देनजर 3 से 5 अक्टूबर तक पंजाब में ट्रैक्टर रैलियों का नेतृत्व करेंगे, जिसमें पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी शामिल होंगे। पार्टी के सूत्रों ने यह जानकारी दी। पार्टी ने कहा, पंजाब के सभी मंत्री व कांग्रेस विधायक इस रैली में शामिल होंगे। इसमें पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत और प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराएंगे। इस दौरान किसानों की नाराजगी और उनके दर्द के लिए आवाज को बुलंद किया जाएगा, जिनकी आजीविका और भविष्य को केंद्रीय कानूनों ने दांव पर लगा दिया है।


                     

योगी ने 75 जिलों में कार्यों की समीक्षा की

योगी ने प्रदेश के 75 जिलों में कार्यों की समीक्षा की।


लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के सभी 75 जिलों में विकासात्मक परियोजनाओं की समीक्षा पूरी कर ली है। पिछले 27 दिनों से चल रहीं बैठकें बुधवार रात को झांसी मंडल की समीक्षा के साथ समाप्त हुईं। मुख्यमंत्री ने महामारी के दौरान वर्चुअल बैठकों के माध्यम से सभी डिवीजन में किए गए कार्यों की समीक्षा की। योगी आदित्यनाथ ने बैठकों में कहा कि उत्तर प्रदेश विकास, प्रगति, वृद्धि और समृद्धि में एक नया अध्याय लिखने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे और डिफेंस कॉरिडोर बेरोजगारों और उद्यमियों के लिए नए अवसर लाएगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक डिवीजन में 50 करोड़ रुपये से अधिक की लागत वाली 22 मेगा परियोजनाएं हैं। योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को जालौन जिले में वेंटिलेटर बनाने और तकनीशियनों को इस संबंध में प्रशिक्षित करने का निर्देश दिया। उन्होंने जिले में दो एनेस्थेटिस्ट की नियुक्ति करने को भी कहा।
उन्होंने कहा कि 1 अक्टूबर से शुरू होने वाले खनन कार्य में निर्णय लेने और कामकाज के संदर्भ में कुछ पारदर्शिता की आवश्यकता है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, “आइए हम सभी इस बात को अच्छी तरह से समझें कि जब तक कोई दवा या वैक्सीन बाजार में नहीं आता है, तब तक हमारे सामने सुरक्षात्मक उपाय ही एकमात्र विकल्प है। प्रभावी निगरानी प्रणाली और संपर्क ट्रेसिंग कोविड से हर स्तर पर व्यापक जागरूकता फैलाने के अलावा कई लोगों की जान बचा सकती है।”
सभी परियोजनाओं के समय-सीमा को ध्यान में रखने पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि उपयोग प्रमाणपत्र परियोजना के भौतिक सत्यापन के बाद ही प्रस्तुत किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि परियोजनाओं को समय पर पूरा करने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए, लेकिन साथ ही काम की गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नहीं होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास के लिए इस्तेमाल होने वाले धन का उपयोग कहीं और नहीं किया जाना चाहिए, अन्यथा सरकार कठोर कार्रवाई करेगी। उन्होंने कहा, “मनरेगा के तहत काम के अवसर पैदा करें और अधिक से अधिक प्रवासी मजदूरों को इसमें शामिल करें।” मुख्यमंत्री ने हर संभव तरीके से पानी का संरक्षण करने का निर्देश दिया और कहा कि प्राकृतिक जल निकायों, तालाबों और कुओं को पुनर्जीवित करने की तत्काल जरूरत है। उन्होंने कहा कि बारिश खत्म होने के बाद सड़कों की मरम्मत युद्धस्तर पर की जानी चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को एमएसएमई इकाइयों को स्थापित करने के लिए उद्यमियों को ऋण देने की सुविधा देने का भी निर्देश दिया और जिलों को संगठित रूप से ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट’ (ओडीओपी) के तहत उत्पादों का प्रदर्शन, विकास और मार्केटिंग करने के लिए कहा।               


टाटा मोटर्स का यूपी के विकास में योगदान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के परिवहन मंत्री अशोक कटारिया ने कहा है कि टाटा मोटर्स कंपनी का उत्तर प्रदेश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इस कंपनी द्वारा प्रदेश में अनेक इकाइयां स्थापित की गई हैं, जिनमें बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार उपलब्ध है। श्री कटारिया यहां सुल्तानपुर रोड पर हाईवे स्थित कबीरपुर में टाटा मोटर्स द्वारा अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त नवनिर्मित गुंजन सर्विस सेन्टर का उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह सर्विस स्टेशन उच्च गुणवत्ता का एक बेहतर उदाहरण है। प्रदेश सरकार की औद्योगीकरण नीति से इस उद्यम को प्रोत्साहन मिला है। उन्होंने कहा कि इसमें बीएस-6 वाहनों के लिए प्रदेश की पहली रीजनरेशन-वे की स्थापना की गई है। इस सर्विस स्टेशन की इस क्षेत्र में बड़ी आवश्यकता थी, जिसे टाटा कंपनी ने मूर्तरूप दिया।


परिवहन मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में औद्योगीकरण को नई गति देने के लिए कटिबद्ध है। इसमें वृहत औद्योगिक इकाईयों का सहयोग अपेक्षित है। राज्य सरकार ने उद्यमियों और निवेशको को हर स्तर पर आवश्यक सहूलियतें और सुविधाएं प्रदान करने की व्यवस्था की है। उन्होंने प्रदेश और देश के विकास में टाटा कंपनी के योगदान की चर्चा करते हुए कहा कि यह कंपनी विकास के कार्यक्रमों को उद्योगों की स्थापना करके अहम भूमिका निभा रहा है। उन्होंने कहा कि इस अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त इस सर्विस सेंटर के माध्यम से लोग भरपूर लाभ उठा सकेंगे।


संचारी रोग नियंत्रण अभियान का तीसरा चरण

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज ‘विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान’ के तृतीय चरण का शुभारम्भ किया। इस मौके पर उन्होंने विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान से सम्बन्धित जागरूकता वीडियो का लोकार्पण भी किया। यह अभियान 01 अक्टूबर, 2020 से 31 अक्टूबर, 2020 तक संचालित किया जाएगा। इससे पूर्व, मार्च, 2020 एवं माह जुलाई, 2020 में विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान के क्रमशः प्रथम व द्वितीय चरण संचालित किये गये थे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के नेतृत्व में विभिन्न विभागों के समन्वय, डब्ल्यू0एच0ओ0, यूनीसेफ जैसी संस्थाओं के सहयोग एवं जनसहभागिता के माध्यम से राज्य सरकार द्वारा विगत 03 वर्षाें से संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए अभियान संचालित किया जा रहा है। इन अभियानों से प्रदेश में संचारी रोगों पर प्रभावी नियंत्रण हुआ है। इस दिशा में राज्य की सफलता देश व दुनिया के लिए एक उदाहरण है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश के 38 जनपदों में प्रतिवर्ष संचारी रोगों से बड़ी संख्या में लोग प्रभावित होते थे। पूर्वी उत्तर प्रदेश 40-45 वर्षाें से दिमागी बुखार से प्रभावित होता रहा। गोरखपुर सहित आसपास के जनपदों में वर्ष 1977 से वर्ष 2017 तक प्रतिवर्ष हजारों की संख्या में लोग दिमागी बुखार से प्रभावित होते थे। वर्ष 2017 में वर्तमान प्रदेश सरकार ने दिमागी बुखार के मरीजों के उपचार के साथ-साथ संक्रमण से बचाव की दिशा में प्रयास प्रारम्भ किया। इसके अन्तर्गत स्वास्थ्य विभाग को नोडल विभाग बनाकर ग्राम्य विकास, पंचायतीराज, कृषि, शिक्षा, महिला एवं बाल विकास, नगर विकास आदि विभागों के अन्तर्विभागीय समन्वय से स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन, शुद्ध पेयजल की उपलब्धता तथा बीमारी के प्रति जन जागरूकता के कार्यक्रम प्रारम्भ किये गये। साथ ही, स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रभावी सर्विलान्स की व्यवस्था भी प्रारम्भ की गयी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2016 एवं वर्ष 2017 में क्रमशः 4,353 एवं 5,417 लोग दिमागी बुखार से प्रभावित हुए थे एवं 715 तथा 748 दिमागी बुखार से पीड़ित मरीजों की मृत्यु हुई थी। इसकी तुलना में वर्ष 2020 में 823 लोग दिमागी बुखार से प्रभावित हुए। इनमें से मात्र 25 की मृत्यु हुई। दिमागी बुखार से ग्रसित होने वालों की संख्या तथा इस रोग की मृत्यु दर में राज्य सरकार के प्रयासों के फलस्वरूप काफी गिरावट आयी है। उन्होंने कहा कि दिमागी बुखार के विरुद्ध सफलता अन्तर्विभागीय समन्वय और टीम वर्क से प्राप्त हुई है। इस उपलब्धि को अन्य क्षेत्रों में भी दोहराया जा सकता है।
कार्यक्रम में अपने स्वागत सम्बोधन में अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि माह अक्टूबर, 2020 में संचारी रोग नियंत्रण अभियान का तृतीय चरण संचालित किया जा रहा है। इस समय डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया, दिमागी बुखार जैसी कई संक्रामक बीमारियां होती हैं। इस संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान के तहत टीकाकरण से छूटे बच्चों व माताओं को सूचीबद्ध किया जा रहा है। भविष्य में अभियान चलाकर उनका टीकाकरण कराया जाएगा।             


हदः यूपी में बढ़ रही हैं गैंगरेप की वारदाते

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में इन दिनों अपराध का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। हाथरस के बाद अब बलरामपुर में 22 साल की छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है। अस्पताल ले जाने के दौरान उसकी मौत हो गई,इसे लेकर राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार पर हमला बोला है। मायावती ने कहा,”योगी आदित्यनाथ को मैं बताना चाहती हूं कि आपने एक महिला के पेट से जन्म लिया है,आपको दूसरों की बहन-बेटी को अपनी बहन-बेटी समझना चाहिए,यदि आप उनकी हिफाज़त नहीं कर सकते तो बेहतर यही है कि आपको खुद ही पीछे हट जाना चाहिए।खुद ही इस्तीफा दे देना चाहिए,उन्होंने कहा,मुझे 99 नहीं 100% भरोसा हो गया है कि वर्तमान में यूपी के CM,सरकार चलाने में सक्षम नहीं है,बेहतर यही है कि आप या तो नेतृत्व परिवर्तन करें और यदि आप नहीं कर पा रहे हैं तो यहां पर राष्ट्रपति शासन लगाएं. कम से कम उत्तर प्रदेश की जनता के ऊपर रहम करें,यही मेरी अपील है।
मायावती ने कहा,’हाथरस की घटना के बाद मुझे ऐसा लग रहा था कि शायद यूपी सरकार कुछ हरकत में आएगी,यूपी के मनचले लोग जो बहन-बेटियों का उत्पीड़न कर रहे हैं,उन पर अंकुश लगाएगी,पर ऐसा नहीं हुआ।आज सुबह मैंने बलरामपुर की एक घटना न्यूज़ में देखी जिसने मुझे झकझोर कर रख दिया.उन्होंने कहा, ”अगर वह महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं कर सकते तो यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को इस्तीफा दे देना चाहिए। मैं केंद्र सरकार से आग्रह करती हूं कि उन्हें उनके स्थान पर भेजा जाए- गोरखनाथ मठ,यदि वह मंदिर पसंद नहीं करते,तो उन्हें राम मंदिर निर्माण का कार्य दिया जाना चाहिए। बसपा प्रमुख ने कहा, ”उत्तर प्रदेश में वर्तमान भाजपा सरकार में कानून का नहीं बल्कि गुंडों, बदमाशों, माफियाओं, बलात्कारियों एवं अन्य अराजक तत्वों का राज चल रहा है,यहां की कानून व्यवस्था पूरी तरह से दम तोड़ चुकी है,खासकर इस सरकार में यहां की बहन-बेटियां बिलकुल सुरक्षित नहीं है।             


धोनी और उनकी पत्नी में अलग योजना बनाई

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान, महेंद्र सिंह धोनी और उनकी पत्नी साक्षी ने क्रिकेट से परे विभिन्न और अन्य खेलों में रन बनाने की योजना बनाई है। वे एक वेब श्रृंखला के साथ ओटीटी अंतरिक्ष में प्रवेश कर रहे हैं। साक्षी और एमएसडी ने अपने बैनर धोनी एंटरटेनमेंट को 2019 में डॉक्यूमेंट्री 'द रोम ऑफ द लायन' के साथ लॉन्च किया। अब, वह एक वेब श्रृंखला लेकर आ रहा है, जो एक नवोदित लेखक द्वारा लिखित एक अप्रकाशित पुस्तक का रूपांतरण है। साक्षी ने कहा, 'मैंने रचनात्मक कार्रवाई में विचारों और सोच को पेश करने की प्रक्रिया पर अधिक ध्यान दिया है। स्क्रीन पर जीवन के लिए एक अवधारणा को देखने की खुशी मुझे रोमांचित करती है, और हम यह सुनिश्चित करते हैं कि प्रक्रिया गुणवत्ता-उन्मुख है। जब हम 'द रोअर ऑफ द लायन' विकसित कर रहे थे, तो हमने सोचा कि मनोरंजन उद्योग में प्रवेश करने का यह सही समय है। ' उन्होंने कहा, 'नई परियोजना असाधारण रूप से अच्छी तरह से लिखी गई है और लेखक द्वारा बनाई गई दुनिया रोमांचक है जिसे हम आपकी स्क्रीन पर लाने का इंतजार कर रहे हैं, यह जादुई यथार्थवाद है। यह एक पौराणिक विज्ञान-कथा है जो एक रहस्यमय 'अघोरी' की यात्रा के बारे में बताती है। दिलचस्प बात यह है कि धोनी को कंपनी का अल्फा कहा जाता है और साक्षी को कंपनी का अल्फा कहा जाता है। साक्षी ने कहा, 'माही का सेना के प्रति प्यार जगजाहिर है। हमने पदनाम को एक रैंक देने और इसे एक अलग स्पर्श देने के बारे में सोचा। यह सशस्त्र बलों के लिए हमारे सम्मान और प्रशंसा का विस्तार है।               


सांसद रवि किशन को वाई प्लस सुरक्षा

बीजेपी सांसद और अभिनेता रवि किशन को मिली वाई प्लस सुरक्षा।


नई दिल्ली। बॉलीवुड और भोजपुरी अभिनेता बीजेपी सांसद रवि किशन की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। रवि किशन को वाई प्लस कैटेगिरी की सिक्योरिटी दी गई है। रवि किशन के खिलाफ हो रही बयानबाजी और बॉलीवुड मामलों में उनके बयान के बाद ये सुरक्षा बढ़ाई गई है। अपनी सुरक्षा बढ़ाए जाने के बाद रवि किशन ने ट्वीट किया है। ट्वीट में उन्होंने अपनी सुरक्षा बढ़ाए जाने की जानकारी दी है। साथ ही खुद को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ऋणी बताया है।
रवि किशन ने ट्वीट कर लिखा- आदरणीय श्रद्धेय योगी आदित्यनाथ महाराज जी, पूजनीय महाराज जी, मेरी सुरक्षा को देखते हुए आपने जो वाई+ सुरक्षा मुझे उपलब्ध करवाई है। इसके लिए मैं, मेरा परिवार तथा मेरे लोकसभा क्षेत्र की जनता आपकी ऋणी है और आपका धन्यवाद करती है। मेरी आवाज़ हमेशा सदन मे गूंजती रहेगी।
बीते सितंबर महीने में रवि किशन ने एक बयान में दावा किया कि पड़ोसी मुल्क चीन और पाकिस्तान हिन्दुस्तान की युवा पीढ़ी को बर्बाद करने के लिये नशीले पदार्थों की तस्करी करा रहे हैं। रवि किशन ने कहा था कि नशे के इस जंजाल में बड़ी संख्या में फिल्म इंडस्ट्री के लोग भी शामिल हैं।                


पाक गोलीबारी में 2 जवान शहीद, 4 घायल

कुपवाड़ा में पाकिस्तानी गोलीबारी में दो जवान शहीद, चार घायल।


श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तानी सैनिकों ने गुरुवार को संघर्ष विराम का उल्लंघन कर गोलीबारी की जिसमें दो जवान शहीद हो गए और चार अन्य घायल हो गए। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने जिले के नौगाम सेक्टर में अग्रिम चौकियों और नियंत्रण रेखा से सटे रिहायशी इलाकों में बिना किसी उकसावे के अंधाधुंध गोलीबारी की। उन्होंने बताया कि गोलीबारी में दो सैनिक शहीद हो गए और चार अन्य घायल हो गए। कर्नल कालिया ने बताया कि सीमा के इस ओर से सैनिकों ने उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया। पाकिस्तानी सैनिकों को हालांकि कितना नुकसान हुआ, यह अब तक पता नहीं चल सका है।               


वैक्सीन में चाहिए सार्क के लिवर का तेल

मानवजाति को कोरोना से बचाने बड़ी संख्या में चढ़ानी पड़ेगी शार्कों की बलि, वैक्सीन के निर्माण में उनके लीवर से मिलने वाले तेल का होगा इस्तेमाल।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई में शार्क को बड़ी मात्रा में बलि दी जाने वाली है। एक अनुमान के अनुसार, मानव जाति के लिए  पर्याप्त मात्रा में कोरोना वैक्सीन बनाने के लिए करीबन 5 लाख शार्क का कत्ल करना पड़ेगा। इससे तय हो गया है कि कोरोना केवल इंसानों के लिए ही नहीं बल्कि अन्य जीव-जंतुओं के लिए भी मौत का संदेश लेकर आया है। सभी वैक्सीन में सुरक्षा के लिए लिहाज से एडजावुंट नाम का एक तत्व होता है, लैटिन में जिसका अर्थ ‘मदद’ होता है, जिससे वैक्सीन की प्रतिरोधक क्षमता को और सुदृढ़ होती है। इस एडजावुंट की मदद से वैक्सीन अतिरिक्त एंटीबॉडी निर्मित करता है, जो उपभोक्ता को रोग के खिलाफ लड़ने में ज्यादा मदद करता है। तमाम तरह के एडजावुंट में से एक स्कॉवालिन है, यह प्राकृतिक तेल शार्क के लीवर में हुआ करती है। इस स्कॉवालिन को हासिल करने के लिए शार्क की हत्या करनी पड़ती है। एक टन स्कॉवालिन को हासिल करने के लिए 3000 शार्क को मारने की जरूरत होती है। कैलिफोर्निया, अमेरिका में सक्रिय शार्कएलाइज  संरक्षण समूह ने चेतावनी दी है कि दुनिया के सभी लोगों को कोविड19 के एक डोज के निर्माण के लिए करीबन 2.5 लाख शार्क की हत्या करनी पड़ेगी, और यदि दो डोज देना पड़ा तो करीबन 5 लाख शार्क को मारना पड़ेगा। हालांकि, स्कॉवालिन अन्य जानवरों के भी लीवर में पाया जाता है, लेकिन इस नैसर्गिक कंपाउंड के लिए व्यावसायिक तौर पर मुख्य स्रोत शार्क का ही इस्तेमाल किया जाता है। संरक्षणवादियों के एक अनुमान के अनुसार, कॉस्मेटिक्स, मशीन ऑयल और अन्य उत्पादों में स्कॉवालिन की जरूरत को पूरा करने के लिए हर साल करीबन 30 लाख शार्क को मारा जाता है। संरक्षणवादियों को भय है कि वैक्सीन के वृहद पैमाने पर निर्माण की वजह से न केवल शार्क की आबादी को खतरा पैदा हो जाएगा, बल्कि उनकी पूरी प्रजाति पर खतरा मंडराने लगेगा, क्योंकि इनमें प्रजनन जल्दी नहीं होता है। यही नहीं स्कॉवालिन से परिपूर्ण गुल्पर शार्क और बास्किंग शार्क की आबादी पहले ही खतरनाक तौर पर कम हो चुकी है, ऐसे में और हत्या किए जाने से इनका दुनिया से सफाया ही हो जाएगा। हालांकि, शार्क के प्रजातियों की संरक्षण के लिए वैज्ञानिक गन्ना के खमीरीकरण से निर्मित सिंथेटिक स्कॉवालिन के निर्माण की दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं, लेकिन जिस तरह से कोरोना फैल रहा है, और जिस शिद्दत से वैक्सीन की जरूरत महसूस हो रही है, उसमें आशंका इसी बात की है कि अनुमानित संख्या से कहीं ज्यादा शार्कों की कुर्बानी देनी पड़ेगी।             


घटना की निंदा के लिए शब्द नहींः ममता

हाथरस घटना की निंदा के लिए शब्द नहीं: ममता।


कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उत्तर प्रदेश के हाथरस में युवती के साथ हुई बर्बर और शर्मनाक घटना की कड़ी निंदा की हैं। ममता बनर्जी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, “हाथरस में दलित युवती के साथ हुई इस बर्बर और शर्मनाक घटना की निंदा करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं।”
मुख्यमंत्री ने परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा, “इससे अधिक शर्मनाक यह है कि परिवार की उपस्थिति या सहमति के बिना ही बलपूर्वक तरीके से पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया। यह घटना उन लोगों को बेनकाब करती है जो वोटो के लिए झूठे वादे और नारे गढ़ते हैं।”
इससे पहले बुधवार को तृणमूल कांग्रेस ने केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, “दो दिन में लगातार दो जघन्य अपराध बताते है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सत्तारूढ़ भाजपा के नेतृत्व में दलित और हमारी बच्चियां मजाक बन कर रह गई हैं। सरकार देश में हर दलित की जान को डरा रही हैं।”             


हाथरसः राहुल-प्रियंका को हिरासत में लिया

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को यूपी पुलिस ने हिरासत में लिया पैदल ही हाथरस जा रहे दोनों नेताओं को यूपी पुलिस ने रोका। इस दौरान कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और यूपी पुलिस के बीच झड़प हुई। राहुल गांधी ने कहा कि मैं हाथरस के पीड़ित परिवार से मिलने जा रहा हूं। ये मुझे रोक नहीं पाएंगे हाथरस गैंगरेप पीड़िता को इंसाफ दिलाने के लिए देशभर में आवाज़ें उठ रही हैं। गुरुवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी दिल्ली से हाथरस के लिए रवाना हुए दोनों नेताओं का कहना है कि वो पीड़िता के परिवार से मुलाकात करेंगे। हालांकि एक्सप्रेस वे के पास राहुल-प्रियंका के पैदल मार्च को रोक लिया गया है।               


हवा में होगी कोरोना वायरस की पहचान

अब हवा में ही होगी कोरोना वायरस की पहचान, जाने कैसे।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। एक कंपनी ने दावा किया है कि उसने गेम चेंजिंग डिवाइस तैयार की है, जो हवा में कोरोना वायरस की पहचान कर सकती है। किसी जगह पर हवा में कोरोना वायरस मौजूद हैं या नहीं? आने वाले दिनों में यह पता लगाना आसान हो सकता है। कनाडा की एक कंपनी ने दावा किया है कि उसने गेम चेंजिंग डिवाइस तैयार की है जो हवा में कोरोना वायरस की पहचान कर सकती है। कंट्रोल इनर्जी कॉर्प नाम की कंपनी इनडोर एयर क्वालिटी और मॉनिटरिंग इक्विपमेंट बनाने का काम पहले से करती आई है। कोरोना महामारी शुरू होने के बाद कंपनी ने कोरोना वायरस की पहचान करने वाली डिवाइस तैयार करने पर काम शुरू किया था। कंपनी ने कनाडा के ओन्टरियो की दो लैब्स में कोरोना वायरस के ऊपर रिसर्च करने के बाद बायोक्लाउड नाम से एक डिवाइस तैयार कर ली। यह डिवाइस हैंड ड्रायर की तरह दिखती है, लेकिन यह हवा अंदर की ओर खींचती है और फिर उस हवा का विश्लेषण कोरोना की जांच के लिए करती है।कंपनी का कहना है कि उसकी डिवाइस यह पता कर सकती है किसी खास जगह पर हवा में वायरस मौजूद तो नहीं है, अगर रिजल्ट पॉजिटिव आता है तो वहां मौजूद लोगों की अलग से जांच की जा सकती है। क्लासरूम या दफ्तर में भी यह डिवाइस काफी उपयोगी साबित हो सकती है।
कनाडा की वेस्टर्न यूनिवर्सिटी में माइक्रोबायोलॉजी के प्रोफेसर डेविड हेनरिक्स ने बायोक्लाउड डिवाइस की टेस्टिंग की है। कंपनी नवंबर तक इस डिवाइस को बाजार में लॉन्च कर करने वाली है जिसकी कीमत करीब 8.8 लाख रुपये होगी। कंपनी को दुनियाभर से ऑर्डर भी मिलने शुरू हो गए हैं। फिलहाल कंपनी हर महीने 20 हजार यूनिट तैयार कर सकती है।               


नाइट राइडर्स ने रोका जीत का सिलसिला

कोलकाता नाइटराइडर्स ने जीता मैच, रोका राजस्थान रॉयल्स के जीत का सिलसिला।


कोलकाता। आईपीएल सीजन-13 में आज राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइटराइडर्स के बीच मुकाबला खेला गया।जहां कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम ने राजस्थान रॉयल्स की टीम को 37 रन से हरा दिया। और इसके साथ ही राजस्थान रॉयल्स के लगातार दो मैच के जीत का सिलसिला रुक गया। कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम ने राजस्थान रॉयल्स के सामने 175 रन का टारगेट सेट किया था। जिसके जवाब में कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम 137 रन ही बना सकी। कोलकाता नाइटराइडर्स ने सेट किया 175 का टारगेट।
टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम ने 20 ओवर में 6 विकेट खोकर 174 रन बनाए, कोलकाता नाइटराइडर्स की ओर से एक बार फिर से युवा शुभमन गिल ने 34 गेंद में 47 रन की पारी खेली, जिसमें पारी में 5 चौके और 1 सिक्सर लगाया। 23 गेंद में 34 रन बनाकर इयॉन मॉर्गन नाबाद रहे, पारी में 1 चौका और 2 सिक्सर लगाया, आंन्द्रे रसेल ने 14 गेंद में 24 रन बनाए, पारी में 3 सिक्सर लगाया, नीतीश राणा ने  17 गेंद में 22 रन की पारी खेली, पारी में 2 चौका और 1 सिक्सर लगाया। कप्तान दिनेश कार्तिक एक बार फिर से फेल रहे, और 3 गेंद में महज 1 रन बनाकर आउट हो गए, 10 गेंद में 12 रन की पारी कमिंस ने खेली। इस तरह से कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम ने राजस्थान रॉयल्स के सामने 175 रन का टारगेट सेट किया।
राजस्थान रॉयल्स की गेंदबाजी। बात राजस्थान रॉयल्स के गेंदबाजों की करें, तो राजस्थान रॉयल्स के गेंदबाजों में ज्योफ्रा आर्चर ने एक बार फिर से 4 ओवर में महज 18 रन खर्च करके 2 विकेट हासिल किए, ज्योफ्रा की शानदार गेंदबाजी एक बार फिर से देखने को मिली, इसके अलावा टॉम कुर्रान, अंकित राजपूत, जयदेव उनादकट, और तेवतिया इन सभी गेंदबाजों ने 1-1 विकेट हासिल किया। राजस्थान रॉयल्स की बल्लेबाजी। 175 रन के टारगेट का पीछा करने उतरी राजस्थान रॉयल्स के बल्लेबाजों की शुरुआत अच्छी नहीं रही, इस मैच में राजस्थान रॉयल्स के कप्तान स्टीवन स्मिथ और संजू सैमसन जो पिछले दो मैच में शानदार बल्लेबाजी की थी, इस मैच में फेल रहे, मैच में कप्तान स्टीवन स्मिथ जहां 7 गेंद में 3 रन बनाकर आउट हो गए, तो वहीं संजू सैमसन भी इस मैच में कुछ खास नहीं कर सके, सैमसन 9 गेंद में 8 रन बनाकर आउट हो गए, सैमसन ने पारी में एक चौका लगाया,  पारी की शुरुआत करने आए जोश बटलर ने 16 गेंद में 21 रन बनाए, पारी में एक चौका और 2 सिक्सर लगाया, रॉबिन उथप्पा 7 गेंद में 2 रन बनाकर आउट हो गए, रियान पराग 6 गेंद में 1 रन बनाकर आउट हो गए, तेवतिया 10 गेंद में 14 रन बनाकर आउट हो गए, हलांकि राजस्थान रॉयल्स के टॉम कुर्रान ने जरूर शानदार बल्लेबाजी की, और आखिरी तक डटे रहे लेकिन टीम को जीत नहीं दिला सके, टॉम कुर्रान ने सबसे ज्यादा नाबाद 54 रन की पारी खेली, और इसके लिए 36 गेंद का सामना किया, पारी में 2 चौका और 3 सिक्सर लगाया, और इस तरह से राजस्थान रॉयल्स की टीम ने 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 137 रन बनाए। कोलकाता नाइटराइडर्स की शानदार गेंदबाजी।
बात कोलकाता नाइटराइडर्स के गेंदबाजों की करें, कोलकाता नाइटराइडर्स के गेंदबाजों ने शानदार गेंदबाजी की, कोलकाता नाइटराइडर्स युवा गेंदबाजों ने कमाल की गेंदबाजी की, शिवम मावी, वरुण चक्रवर्ती और नागरकोटी तीनों ही गेंदबाजों ने 2-2 विकेट अपने नाम किया, इसके अलावा सुनील नारायण, पैट कमिंस और कुलदीप यादव तीनों गेंदबाजों ने 1-1 विकेट हासिल किया।               


पिकअप-ट्रक की भिड़ंत 4 लोगों की मौत

दर्दनाक सड़क हादसा: पिकअप और ट्रक की आमने सामने की भिड़ंत, 4 की मौत।


रायगढ़। रायगढ़ के खरसिया थाना क्षेत्र में हुए एक दर्दनाक सड़क हादसे में 4 लोगों की मौत हो गई है। इस हादसे में गाड़ी के परखच्चे उड़ गए। मामला रात्रि 9ः30 बजे के आसपास का है। एसपी संतोष सिंह ने बताया कि  कि छाल रोड पर भालुनारा के पास तेज रफ्तार ट्रक व पिकप में आमने- सामने की टक्कर हो गई। विद्युत विभाग की पिकअप सोल्ड महेन्द्रा में चार लोग सवार थे। हादसे में दो व्यक्तियों की घटनास्थल पर मौत हो गयी। वहीं दो व्यक्ति गंभीर रुप से घायल हो गए थे, जिन्हें इलाज के लिए खरसिया अस्पताल ले जाया गया। जहा उनकी मौत हो गई। हादसा कितना भयानक था इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिकअप के परखच्चे उड़ गए। वहीं ट्रक के भी सामने का हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। इस हादसे में जिन लोगों की मौत हुई है उनमें (1) सुशील सिदार, जे.ई, खरसिया, विद्युत विभाग, उम्र करीब 42 वर्ष। निवासी चंद्रपुर । (2) अमल एक्का, 30 वर्ष, जे ई टुरेकेला। निवासी कोरबा। ( 3) राजेन्द्र सिदार, 43 वर्ष, ग्राम परस्कोल, लाइन मेन । (4) भार्गव वैष्णव, 28 वर्ष। पिकप चालक, खरसिया पुरानी बस्ती शामिल हैं।               


पुरुषों की सेहत के लिए बेस्ट है यह फूड्स

पुरुषों की सेहत के लिए बेस्ट माने जाते हैं ये 5 फूड्स।


यहां पर आपको कुछ ऐसे सुपरफूड्स के बारे में बताया जाएगा जो पुरुषों की सेहत के लिए बेहतरीन रूप से फायदेमंद होते हैं। इनका नियमित रूप से सेवन करने के कारण पुरुषों को जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति भी होती है।
पुरुषों को अपनी सेहत का खास ख्याल रखने के लिए विभिन्न प्रकार के फूड्स का सेवन करना चाहिए। सामान्य तौर पर देखा जाए तो पुरुषों के शरीर को विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों की आवश्यकता महिलाओं की अपेक्षा अधिक मात्रा में होती है। इसलिए डायट को विभिन्न प्रकार के फूड्स से मेंटेन करते हुए पुरुषों को इनका सेवन करना चाहिए।
यहां पर आपको ऐसे ही फूड्स के बारे में जानकारी दी जा रही है। इनका नियमित रूप से सेवन करने के कारण आपके शरीर को कई प्रकार की बीमारियों का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है।
1. एवोकाडो
एवोकाडो एक ऐसा फल है जो बॉडीबिल्डिंग के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के पौष्टिक तत्वों की भी पूर्ति करता है। इसमें मौजूद प्रोटीन की मात्रा नई मांसपेशियों के निर्माण में भी काफी सहायता प्रदान करती है। वहीं, शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को संतुलित बनाए रखने के लिए भी एवोकाडो का सेवन फायदेमंद माना जाता है।
2. शहद
शहद एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ-साथ त्वचा को निखारने के लिए भी काम आता है। एक सुपरफूड के रूप में इसका नियमित रूप से किया गया सेवन कई प्रकार की बीमारियों के जोखिम को कम कर देता है। इसलिए शहद का सेवन भी नियमित रूप से कर सकते हैं।
3. शिलाजीत
जिन पुरुषों की पौरुष शक्ति काफी कमजोर होती है, उन्हें ऐसे फूड का सेवन करना चाहिए जिसके कारण टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को बढ़ाने में मदद मिले। शिलाजीत एक ऐसा ही खाद्य पदार्थ है जो पौरुष शक्ति को मजबूत करने और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को बढ़ाने के लिए प्रभावी रूप से कार्य करता है। इसलिए पुरुषों को शिलाजीत का सेवन करने के बारे में भी जरूर सोचना चाहिए।
4. अंडा
पौष्टिक तत्वों से भरपूर होने के साथ-साथ सेहत के लिए विभिन्न प्रकार से फायदेमंद अंडे का सेवन करने की सलाह डॉक्टर के द्वारा भी दी जाती है। वहीं, जिन पुरुषों को बॉडीबिल्डिंग का शौक है, उनके लिए अंडा डायट का आवश्यक हिस्सा होता है। इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन-डी हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए काफी फायदेमंद हो सकती है।


5. सेब


इस फल का सेवन ना केवल पुरुषों को बल्कि बच्चों से लेकर महिलाओं को भी प्रतिदिन करना चाहिए। डॉक्टरों के द्वारा भी सेब का सेवन नियमित रूप से करने की सलाह दी जाती है। यह एक बेहतरीन फल के रूप में हमारे शरीर को लगभग सभी प्रकार के पौष्टिक तत्वों को प्रदान करने की क्षमता रखता है। इसलिए नाश्ते में सेब को भी अपनी डायट का हिस्सा बनाएं।               


वाल्मीकि महासभा का एसडीएम को ज्ञापन

पालूराम


गाजियाबाद। अखिल भारतीय बाल्मीकि महासभा ने की हाथरस के बेटी मनीषा के लिए न्याय की मांग। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले की तहसील लोनी में अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा एवं सर्वभौमिक मानव अधिकार परिषद के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने उपजिलाधिकारी लोनी के द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के लिए ज्ञापन दिया।
जिसमे ज़िला हाथरस के गांव गढ़ी में अमानवीय और मार्मिक सामूहिक रेप हत्याकांड के संबंध में अवगत कराया।
संगठन के पदाधिकारियों ने आरोपियों के खिलाफ जल्द से जल्द कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की मांग की।
जिसका समर्थन सार्वभौमिक मानव अधिकार परिषद के प्रदेश उपाध्यक्ष रिज़वान अली तंवर ने भी साथ में ज्ञापन देकर मांग की। घटना की सीबीआई जांच कराई जाए। पीड़ित परिवार के सदस्य को क्षति पूर्ति हेतु एक करोड़ की धनराशि दी जाए। भयभीत परिवार की सुरक्षा व्यवस्था कराई जाए।
मौके पर अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष संजय गहलोत, भौमिक मानव अधिकार परिषद के प्रदेश उपाध्यक्ष रिजवान अली तंवर, जिलामंत्री वाल्मीकि महासभा कमल गहलोत,सुनील पीवल, संतोष तोमर,अध्यक्ष अखिल भारतीय खटीक महासभा लोनी, प्रदीप गहलौत समाज सेवी,आदर्श निठौरा, नवेतज प्रधान, चंदन प्रधान, गोलू राणा, राहुल उपाध्याय, अनीस अली, चिराग, आजम इदरीसी, एड. तुफैल, लेलेश, अरविंद, राजा, आकिल,अरुण याना, अंकित आदि लोग मौजूद रहे।               


कानपुर के छोटे से गांव से राष्ट्रपति पद तक

कानपुर के एक छोटे से गांव से राष्ट्रपति बनने तक का सफर


नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का आज जन्मदिन है। उनका जन्म 1 अक्तूबर 1945 को  उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में हुआ था। इनके पिता जी का नाम स्वर्गीय माईकू लाल और माता जी का नाम स्वर्गीय कलावती कोविंद है। इनकी पत्नी का नाम सविता कोविंद है। कोविंद जी 20 जुलाई 2017 को देश के राष्ट्रपति चुने गए थे। आइए हम आपको बताते हैं कि कौन हैं रामनाथ कोविंद और कैसा रहा उनका राष्ट्रपति बनने तक का सफर। जन्म और पालन पोषणः14वें राष्ट्र्रपति रामनाथ कोविन्द का जन्म 1 अक्टूबर 1945 में उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले की (वर्तमान में कानपुर देहात जिला), तहसील डेरापुर के एक छोटे से गांव परौंख में हुआ था। उनका सम्बन्ध कोरी या कोली जाति से है जो उत्तर प्रदेश में अनुसूचित जाति के अंतर्गत आती है। भूमिहीन रामनाथ कोविंद के पिता ने एक छोटी सी किराना की दुकान से इन्हें पढ़ाया लिखाया। जब ये 5 वर्ष के थे तब इनके घर में आग लग गई थी। इनकी मां का देहांत आग में जलने से हो गया था। इनके सभी भाई-बहनों का पालन-पोषण इनके पिता ने किया।वकालत से राजनीति तक का सफरः गवर्नर ऑफ बिहार की वेबसाइट के मुताबिक कोविंद दिल्ली हाई कोर्ट में 1977 से 1979 तक कोविंद केंद्र सरकार के वकील रहे थे। 1980 से 1993 तक केंद्र सरकार के स्टैंडिग काउंसिल में थे। 1994 में कोविंद उत्तर प्रदेश से राज्यसभा के लिए सांसद चुने गए। वह 12 साल तक राज्यसभा सांसद रहे। वे कई संसदीय समितियों के सदस्य भी रहे हैं। 16 साल वकालत करने के बाद उन्होंने राजनीति में पदार्पण किया। इस पृष्‍ठभूमि में जानें उनसे जुड़ी 5 अहम बातें। सिविल सर्विसेजः डिग्री हासिल करने के बाद सिविल सर्विसेस परीक्षा दी। पहले और दूसरे प्रयास में नाकाम रहने के बाद तीसरी बार में उन्‍होंने कामयाबी हासिल की। कोविंद ने आईएएस जॉब इसलिए ठुकरा दिया क्‍योंकि मुख्‍य सेवा के बजाय उनका एलाइड सेवा में चयन हुआ था। मोरारजी से नाताः वर्ष 1977 में जनता पार्टी की सरकार बनने के बादवे तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरार जी देसाई के निजी सचिव भी रहे। बाद में वे बीजेपी से जुड़े। पार्टी की टिकट से वे 2 बार चुनाव भी लड़ चुके हैं। लेकिन दुर्भाग्‍य से दोनों ही बार उन्‍हें हार का सामना करना पड़ा। बीजेपी से जुड़ावः1991 में बीजेपी में शामिल हुए। पार्टी के प्रवक्‍ता का पद भी उन्‍होंने संभाला है। कोविंद बीजेपी के दलित मोर्चे के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष का पद भी संभाल चुके हैं। कुष्‍ठ रोगियों के लिए काम करने वाली संस्‍था दिव्‍य प्रेम सेवा मिशन के कोविंद संरक्षक हैं।राज्‍यसभा से नाताः उच्‍च सदन राज्‍यसभा में 12 वर्ष तक कोविंद बीजेपी का प्रतिनिधित्‍व कर चुके हैं। वर्ष 1994 में पहली बार राज्‍यसभा के लिए चुने गए थे। उनके परिवार में एक पुत्र और एक पुत्री हैं। बिहार से राज्‍यपाालः में बिहार के राज्‍यपाल चुने गए। इस दौरान राज्‍य के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ बेहतर तालमेल रहा। यही वजह रही कि जब एनडीए ने राष्‍ट्रपति पद के लिए कोविंद की उम्‍मीदवारी की घोषणा की तो नीतीश कुमार ने बेझिझक उनको समर्थन देने की घोषणा की। यूपी से आने वाले पहले राष्ट्रपति कोविंदः बीजेपी दलित मोर्चा और अखिल भारतीय कोली समाज के अध्यक्ष रह चुके कोविंद बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता के तौर पर भी सेवाएं दे चुके हैं। अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी युग के रामनाथ कोविंद उत्तर प्रदेश में बीजेपी के सबसे बड़े दलित चेहरा माने जाते थे। कोविंद उत्तर प्रदेश से आने वाले पहले राष्ट्रपति हैं। कानपुर शहर से 80 किलोमीटर दूर कानपुर देहात के रनौख-परौख जुड़वां गांव हैं। यहीं परौख में जन्मे रामनाथ अब देश की सबसे बड़ी कुर्सी पर विराजमान हैं।                 


13 अक्टूबर तक अंतरराष्ट्रीय उड़ाने बंद

31 अक्टूबर तक बढ़ाया गया अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध।


नई दिल्ली। सरकार ने कोरोना के चलते अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवाओं पर लगे प्रतिबंध को 31 अक्तूबर तक के लिए बढ़ा दिया है। अब इस तारीख तक आप हवाई यात्रा नहीं कर पाएंगे। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय यानि डीजीसीए ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर जारी प्रतिबंध को 31 अक्तूबर तक के लिए बढ़ा दिया गया है। गौरतलब है कि विदेशी हवाई यात्रा पर काफी लंबे समय से प्रतिबंध चला आ रहा है। जिसके चलते विदेश यात्रा करनेवाले लोगों को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। गौरतलब है कि देश में 25 मार्च को लॉकडाउन की शुरुआत हुई थी और इससे पहले ही 23 मार्च को सभी अंतरराष्ट्रीय और घरेलू हवाई यात्रा सेवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। 25 मई से घरेलू हवाई यात्रा सेवाएं तो शुरू कर दी गई थी लेकिन अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा सेवाएं अभी भी बहाल नहीं हो पाई हैं। ऐसे में हजारों लोग देश और विदेश में महीनों से फंसे हुए हैं।                       


फीस वसूलने पर 9 अक्टूबर तक लगाई रोक

जयपुर। राजस्थान हाईकोर्ट ने एकल पीठ के निजी स्कूलों को ट्यूशन फीस वसूलने के आदेश पर 9 अक्टूबर तक के लिए रोक लगा दी है। चीफ जस्टिस इंद्रजीत महांति और जस्टिस महेंद्र गोयल की बेंच ने गुरुवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए रोक लगा दी। अब हाईकोर्ट सोमवार को सभी मामलों की एकसाथ सुनवाई करेगा। इस मामले में अधिवक्ता सुनील समदरिया ने अपील दायर की है।


एनएचआरसी ने योगी सरकार को दिया नोटिस

हाथरस की घटना पर एनएचआरसी ने योगी सरकार को दिया नोटिस।


लखनऊ। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने हाथरस में 19 साल की लड़की से हुए सामूहिक दुष्कर्म और बेहरमी से हत्या करने की घटना का संज्ञान लेते हुए योगी आदित्यनाथ सरकार को नोटिस जारी किया है। आयोग ने राज्य सरकार को निर्देश दिया है कि मामला दो समुदायों के बीच का है इसलिए मामले की गंभीरता को देखते हुए मृतका के परिवार और गवाहों को पर्याप्त सुरक्षा दें। सरकार को 4 हफ्तों के अंदर नोटिस का जवाब देने के लिए कहा गया है।
डीजीपी को व्यक्तिगत रूप से इस मामले को देखने के लिए कहा गया है ताकि शीघ्र सुनवाई सुनिश्चित की जा सके और दोषियों को बिना देरी के अदालत द्वारा दंडित किया जा सके। नोटिस में यह भी कहा गया है कि मौजूदा हालात को देखते हुए मृतका के परिवार के साथ-साथ गांव में रहने वाले अनुसूचित जाति के अन्य सदस्यों को भी उचित सुरक्षा दी जाए।
बता दें कि 14 सितंबर को अनुसूचित जाति की 19 वर्षीय लड़की के साथ कथित रूप से दुष्कर्म कर क्रूरता बरती गई थी। पहले उसे अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया और फिर सोमवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया, जहां उसने मंगलवार को दम तोड़ दिया।
महानिरीक्षक पीयूष मोर्डिया ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए दुष्कर्म की बात से इनकार किया। उन्होंने कहा कि आरोपियों ने युवती का गला घोंटा था। उन्होंने कहा कि पीड़िता ने जिन 4 आरोपियों के नाम लिए उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलिस ने कथित तौर पर देर रात अंतिम संस्कार कर दिया और इससे राष्ट्रीय आक्रोश फैल गया।
परिवार ने दावा किया कि उन्हें आखिरी बार लड़की का चेहरा देखने और विधि-विधान से दाह संस्कार करने की अनुमति नहीं दी गई। बुधवार को मुख्यमंत्री योगी ने पीड़िता के पिता से बात कर आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया। साथ ही परिवार के लिए 25 लाख रुपये मुआवजे और एक सदस्य के लिए नौकरी की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने इस घटना की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया है।                 


आयकर विभाग ने नया नियम जारी किया

नई दिल्ली। एक अक्टूबर से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्स कलेक्टेड ऐट सोर्स को लेकर नया नियम जारी किया है। नए नियम के मुताबिक, किसी भी ई-कॉमर्स ऑपरेटरको यह अधिकार दिया गया है, है कि वह एक अक्टूबर से गुड्स और सर्विस सेल पर एक फीसदी का टीसीएस काटे वित्त अधिनियम 2020 में इनकम टैक्स कानून 1961 में एक नई धारा 194-ओ जोड़ी गई है। इसके तहत ई- कॉमर्स ऑपरेटर को यह अधिकार दिया गया है कि एक अक्ट्रबर 2020 से उसके डिजिटल अथवा इलेक्ट्रॉनिक सुविधा अथवा प्लैटफॉर्म के जरिये होने वाले माल अथवा सेवा अथवा दोनों के कुल मूल्य पर एक फीसदी की दर से इनकम टैक्स लेना होगा। फाइनैंश ऐक्ट 2020 में इनकम टैक्स कानून की धारा 206सी में एक उप-धारा (1 एच) भी जोड़ी गई है। इसके तहत यदि बिक्री का मूल्य 50 लाख रुपये से अधिक है अथवा पिछले साल के दौरान ग्रॉस सेलिंग 50 लाख रुपये से अधिक था उसमें विक्रेता को खरीदार से 0.1 फीसदी की दर से कर वसूलना होगा। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने कहा कि उसे इस सबंध में ज्ञापन प्राप्त हुये थे कि कुछ एक्सचेंजों और क्लियरिंग कार्पोरेशन के स्तर पर स्रोत पर कर कटौती (टीडीएस) और स्रोत पर कर वसूली (टीसीएस) के प्रावधानों को अमल में लाने में परेशानी हो रही थी। यह बताया गया कि कई बार इस तरह के सौदों में खरीदार और विक्रेता के बीच सीधे संपर्क नहीं होता है। सीबीडीटी ने स्पष्ट किया है कि टीसीएस का नया प्रावधान जो लागू किया गया है वह मान्यता प्राप्त शेयर बाजारों में होने वाले जिंस अथवा प्रतिभूतियों के सौदों पर लागू नहीं होगा। यह प्रावधान बिजली नवीकरणीय ऊर्जा प्रमाणपत्रों और ऊर्जा बचत प्रमाणपत्रों के लेनदेन पर भी लागू नहीं होगा।


बीपीसीएल की बोली लगाने का समय बढ़ा

सरकार ने बीपीसीएल की बोली लगाने की समय सीमा 16 नवंबर तक बढ़ाई
नई दिल्ली। सरकार ने को भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) में हिस्सेदारी खरीदने के लिए प्रारंभिक बोली जमा करने की समयसीमा डेढ़ महीने बढ़ाकर 16 नवंबर तक कर दी है। एक आधिकारिक आदेश के अनुसार, ''इच्छुक बोलीदाताओं (आईबी) के अनुरोध और कोविड-19 महामारी से पैदा हुई मौजूदा स्थितियों को देखते हुए अभिरुचि पत्र जमा करने की अंतिम तारीख को आगे 16 नवंबर 2020 (शाम पांच बजे) तक बढ़ा दिया गया है। बीपीसीएल के शेयर बीएसई में दोपहर के कारोबार के दौरान 6.55 प्रतिशत गिरकर 360.90 पर थे।               


इंदिरापुरम में ज्वेलर्स की दुकान में लूट

इंदिरापुरम में ज्वेलर्स की दुकान में बदमाशों ने लूटी लाखों की ज्वेलरी


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। इंदिरापुरम थाना क्षेत्र में आए दिन बदमाश किसी न किसी घटना को अंजाम देकर मौके से आसानी से फरार हो जाते हैं। जिसमें पुलिस लाख कोशिशों के बावजूद बदमाशों पर लगाम लगाने में असमर्थ दिखाई दे रही है। ऐसा ही एक ताज़ा मामला सामने आया है। जिसमें दुर्गा ज्वैलरी नामक ज्वेलरी शॉप में घुसकर बदमाशों ने हथियारों के बल पर लूट की घटना को अंजाम दे बदमाश आसानी से फरार हो गए।
आपको बता दें कि यह मामला न्याय खंड का है जहां पर हथियारबंद बदमाशो ने दुर्गा ज्वेलरी शॉप को अपना निशाना बनाया और लाखों के सोने चांदी के जेवर लेकर फरार हो गए सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची थाना इंदिरापुरम पुलिस पास में लगे सीसीटीवी कैमरा के आधार पर बदमाशों की तलाश करने की बात कह रही है। वहीं एसपी सिटी ने बताया कि तीन से चार बदमाश ग्राहक बनकर ज्वेलरी शॉप में आए और दुकानदार को डरा धमका कर डेढ़ सौ ग्राम सोना और कुछ किलो चांदी लेकर फरार हो गए वही एसपी सिटी ने बताया कि हमने कुछ टीमें बनाकर बदमाशों की धरपकड़ के लिए रवाना कर दी है और बदमाशों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।               


भीषण अग्निकांड में 70 दुकानें जलकर राख

काशीपुर में भीषण अग्निकाण्ड 70 दुकानें जलकर खाक करोड़ों का हुआ नुकसान 


काशीपुर। उधमसिंह नगर जिले के काशीपुर में बीती देर रात अज्ञात कारणों के चलते शहर की पुरानी सब्जी मंडी की दुकानों में आग लग गयी और देखते-देखते इस आग ने करीब 70 से अधिक दुकानों को अपनी चपेट में ले लिया। जब तक फायर बिग्रेड की गाड़ी मौके पर पहुंचती तब तक आग विकराल रूप धारण कर चुकी थी। हालांकि दमकल ने कड़ी मशक्कत के बाद किसी तरह आग पर काबू पाया। आग की सूचना पर मौके पर सैकड़ों की भीड़ जमा हो गई। इस अग्निकाण्ड में अब तक करीबन 4 करोड़ के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है।
जानकारी के अनुसार मंगलवार की देर रात को काशीपुर की पुरानी सब्जी मंडी की एक दुकान में अज्ञात कारणों से आग लग गई और देखते ही देखते आग ने आसपास की करीब 70 दुकानों को अपनी चपेट में लेकर खाक कर दिया। इस अग्निकाण्ड के दौरान मची अफरा तफरी में कई लोग गिर कर घायल भी हो गए। बताया जा रहा है कि आग रेडीमेड की एक दुकान से शुरू होकर बहुत तेजी से पूरे बाजार क्षेत्र में फैल गई। सूचना पर जब तक दमकल विभाग की गाड़ियां पहुंची तब तक काफी नुकसान हो चुका था। बाजार में छोटी गालियां होने के कारण फायर ब्रिगेड की गाड़ी क्षेत्र के अंतिम छोर तक नहीं पहुंच पाई और दुकानें जल कर राख हो गयी।
वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि दमकल विभाग की टीम काफी देरी से घटनास्थल पर पहुंची तब तक आग ने अधिकतर दुकानों को अपनी चपेट में लिया। उपजिलाधिकारी गौरव कुमार ने बताया कि आग को बुझाने के लिए आधा दर्जन से अधिक दमकल की गाड़ी लगाई गई। उन्होंने बताया कि आग से करीब 70 फड़ों को नुकसान हुआ है। इस अग्निकाण्ड में करीब 4 करोड़ के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा।               


पीएम ने राष्ट्रपति को जन्मदिन की बधाई दी

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उनकी समृद्ध अंतर्दृष्टि और नीतिगत मामलों में विद्वता देश के लिए बहुत बड़ी संपत्ति है। रामनाथ कोविंद 25 जुलाई 2017 को देश के 14 वें राष्ट्रपति बने थे और आज वह 75 वर्ष के हो गए। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति को बधाई संदेश में कहा,” राष्ट्रपति जी को जन्मदिन की बधाई। उनकी समृद्ध अंतर्दृष्टि में और नीतिगत मामलों में विद्वता देश के लिए बहुत बड़ी संपत्ति है। वह कमजोरों की सेवा में अत्यंत दयालुता से जुटे रहते हैं। मैं उनके अच्छे स्वास्थ्य और लंबी आयु की कामना करता हूं।


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)











 अक्टूबर 02, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-49 (साल-02)
2. शुक्रवार, अक्टूबर 02, 2020
3. शक-1944, अश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि- पूर्णिमा , विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 60:04, सूर्यास्त 06:25।


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेंगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275                                


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                                                                       











दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...