सोमवार, 27 जुलाई 2020

कोरोना के बीच, मौसम की मुसीबत

नई दिल्ली देश में कोरोना वायरस के मामले हर दिन के साथ एक नया रिकॉर्ड बना रहे हैं। कोरोना महामारी दुनिया के लिए मुसीबत बनी हुई है। सभी सरकारें इससे पार पाना चाह रही हैं और ऐसे में सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। ऐसा ही हाल भारत का है, यहां भी तमाम कदम कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए उठाए जा रहे हैं। हालांकि, इस दौरान बारिश भी प्रशासन के सामने चुनौती बनी हुई है। भारी बारिश से देश के कई इलाकों में हाल खराब है। कई जगहों पर बाढ़ आई हुई है, ऐसे में बाकी सभी तरह की व्यवस्था भी कर पाना मुश्किल हो गया है। वहीं, अभी भी मौसम खराब ही रहेगा। मौसम विभाग द्वारा काफी इलाकों में भारी से भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। बता दें कि पहले से ही देश में मौसम खराब है, ऐसे में बारिश के पूर्वानुमान से सभी को अलर्ट हो जाना चाहिए। 


भारत मौसम विज्ञान विभाग ने आने वाले पांच दिनों का मौसमी बुलेटिन जारी किया है। विभाग द्वारा कुछ जगहों पर आंधी-तूफान का भी पूर्वानुमान जारी किया है। मौसम विभाग 27 जुलाई को हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी राजस्थान, बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश और असम और मेघालय में पृथक स्थानों पर भारी वर्षा की संभावना जताई है। इसके अलावा बिहार, उत्तराखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर बिजली के साथ-साथ तेज आंधी की संभावना है।            


सीएम शिवांशु 'निर्भयपुत्र'


                     


तिहरे हत्याकांड से थर्राया उत्तर-प्रदेश

कासगंज में 3 लोगों की हत्या कर फरार हुएः बदमाश अखिलेश- प्रदेश की बागडोर अब बदमाशों के हाथ में
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कासगंज में रविवार को ट्रिपल मर्डर से हड़कंप मच गया। एक ही परिवार के 3 लोगों की निर्मम हत्या से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। गोली लगने से एक युवक गंभीर रूप से घायल भी हो गया है। कासगंज ट्रपल मर्डर पर अखिलेश यादव ने राज्य की योगी सरकार पर निशाना साधा है। कासगंज में इस ट्रिपल मर्डर की वारदात के पीछे आपसी रंजिश मुख्य वजह मानी जा रही है। वारदात के बाद हत्यारे मौके से फरार हो गए हैं। इस बीच कासगंज में सनसनीखेज ट्रिपल मर्डर पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी आदित्यनाथ सरकार की नाकामी पर निशाना साधा है।               


गिफ्ट हैंपर के साथ मनेगा 'रक्षाबंधन'

मनोज सिंह ठाकुर


नई दिल्ली। इस बार की राखी का त्योहार गिफ्ट हैंपर और मिठाई के डिब्बों के साथ ज्यादा मनाने की तैयारी है। इसका सबसे बड़ा कारण सोशलडिस्टेंसिंग और अन्य एहतियात हैं। मिठाई कारोबारियों का कहना है कि गिफ्ट हैंपर की कीमत 500 से दो हजार रुपये के बीच में रखी जा रही है। इस गिफ्ट हैंपर में मिठाई के साथ-साथ चाकलेट, केक, बिस्कुट और चिप्स को शामिल किया गया है। कारोबारियों का मानना है कि गिफ्ट हैंपर की खरीद में ग्राहक और दुकानदार दोनों के लिए मुफीद होगा। क्योंकि एक तरफ जहां ग्राहक अपनी खरीद जल्दी पूरी करेगा तो दुकान के अन्दर भीड़ भी कम लगेगी। आशियाना में मिठाई और बेकरी शाप के मालिक अनिल वरमानी बताते हैं कि दीवाली की तरह रक्षाबंधन में महंगे गिफ्ट हैंपर की मांग नहीं रहती है। इसका कारण है कि जैसे बहन के दो भाई हैं तो उसने 500-500 के दो गिफ्ट हैंपर ले लिए। इसी तरह कुछ गिफ्ट हैंपर 1500 से 2000 रुपये तक भी तैयार किए जाते हैं जिनमें मिठाई, केक, चाकलेट, चिप्स और बिस्कुट के साथ ड्राइफ्रूट को शामिल कर लिया जाता है। लेकिन इनकी मांग अभी कम ही है।


 

वहीं इन्दिरानगर में मिठाई-बेकरी शाप के मालिक गुंजन तोलानी बताते हैं कि अभी आठ दिन से वृहद कंटेनमेंट जोन की वजह से उनकी दुकान बंद ही रही है। अब सोमवार से इस प्रतिबंध हटने से दुकानें खुलेंगी आगे किस तरह से बाजार रहेगी उसी को ध्यान में रखकर 500-1000 रुपये के बीच गिफ्ट हैंपर बनाए जाएंगे। 


राखी का दिया जा रहा ऑनलाइन आर्डर
इस बार राखी की खरीद के लिए ग्राहक ऑनलाइन खरीदारी ज़्यादा कर रहे हैं। इसका कारण है कि इस बार सोशलडिस्टेंसिंग को लेकर ‌फुटपाथ पर लगने वाली दुकानों पर संशय बना हुआ है। भूतनाथ बाजार में फुटपाथ पर दुकान लगाने वाले रमन दुबे बताते हैं कि इस बार रक्षाबंधन के दो दिन पहले पूरा शहर और बाजार बंद रहेगा। ऐसे में फुटपाथ की बिक्री न के बराबर होनी तय है। ऐसे में इस बार ऑनलाइन राखी की बिक्री अच्छी मात्रा में हो रही है। हमारे जैसे कई कारोबारी इस बार इस धंधे को आसानी से कर रहे हैं और ग्राहकों की पसंद वाली राखी उनके घरों तक पहुंचा रहे हैं। इसमें कुछ बड़े कारोबारी भी सहयोग कर रहे हैं जिससे माल की उपलब्धता बनी रहे।             


कोरोना से 188 देशों के लोग संक्रमित

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) दिन प्रतिदिन तेजी से पांव पसारते जा रहा है और दुनिया भर में कम से कम 188 देशों को अपनी गिरफ्त में ले चुका है। इस वायरस से अब तक करीब 1.62 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हो चुके हैं तथा 6,47,910 लोगों की मौत हो चुकी है। कोविड-19 के संक्रमितों के मामले में अमेरिका दुनिया भर में पहले, ब्राजील दूसरे और भारत तीसरे स्थान पर है। वहीं इस महामारी से हुई मौतों के आंकड़ों के मामले में अमेरिका पहले, ब्राजील दूसरे और ब्रिटेन तीसरे स्थान पर है जबकि भारत मृतकों की संख्या के मामले में छठे स्थान पर है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केन्द्र (सीएसएसई) की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार विश्व भर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 16,199,931 हो गयी है जबकि अब तक इस महामारी के कारण 647,910 लोगों ने जान गंवाई है। विश्व महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में कोरोना से अब तक 42,33,825 लोग संक्रमित हो चुके हैं तथा 1,46,934  लोगों की मौत हो चुकी है। ब्राजील में अब तक 24,19,091 लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं जबकि 87,004 लोगों की मौत हो चुकी है।


भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना के 49,931 नये मामले सामने आये हैं और इसके साथ ही यहां इससे संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या 14,35,453 हो गयी है।  देश में अब तक कुल 9,17,568 मरीज स्वस्थ हुए हैं जबकि 32,771 लोगों की इस महामारी से मौत हो चुकी है। रूस कोविड-19 संक्रमित मामलों में चौथे नंबर पर है और यहां इसके संक्रमण से अब तक 8,11,073 लोग प्रभावित हुए हैं तथा 13,249 लोगों ने जान गंवाई है। दक्षिण अफ्रीका में कोरोना महामारी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है जिसके कारण कोरोना से संक्रमित होने के मामले में दक्षिण अफ्रीका पांचवें स्थान पर पहुंच गया है। यहां इससे अब तक 445,433 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 6,749 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं मेक्सिको में कोरोना से अब तक 3,90,516 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 43,680 लोगों की मौत हुई है। पेरू में भी लगातार हालात खराब होते जा रहे है। यहां संक्रमितों की संख्या 3,75,961 हो गई तथा 17,843 लोगों की मौत हो चुकी है। कोविड-19 से संक्रमित होने के मामले चिली अब आठवें नंबर पर पहुंच गया है। यहां इससे अब तक 3,45,790 लोग संक्रमित हुए हैं और मृतकों की संख्या 9,112 है। ब्रिटेन संक्रमण के मामले में नौवें नंबर पर है। यहां अब तक इस महामारी से 3,01,020 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 45,837 लोगों की मृत्यु हो चुकी है।वहीं खाड़ी देश ईरान में संक्रमितों की संख्या 2,91,172 हो गई है और 15,700 लोगों की इसके कारण मौत हुई है।


पड़ोसी देश पाकिस्तान में कोरोना से अब तक 2,73,113 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 5,822 लोगों की मौत हो चुकी है। स्पेन में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2,72,421 है जबकि 28,432 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं सऊदी अरब में कोरोना संक्रमण से अब तक 2,66,941 लोग प्रभावित हुए हैं तथा 2,733 लोगों की मौत हो चुकी है। यूरोपीय देश इटली में इस जानलेवा विषाणु से 2,46,118 लोग संक्रमित हुए हैं तथा 35,107 लोगों की मौत हुई है। कोलंबिया में 2,40,795 लोग कोरोना संक्रमित है और 8,269 लोगों की मौत हो चुकी है।  तुकीर् में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2,26,100 हो गयी है और 5,613 लोगों की मौत हो चुकी है। बंगलादेश में 2,23,453 लोग कोरोना की चपेट में आए हैं जबकि 2,928 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है। फ्रांस में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2,17,801 हैं और 30,195 लोगों की मौत हो चुकी है। जर्मनी में 2,06,667 लोग संक्रमित हुए हैं और 9,124 लोगों की मौत हुई है।


कोरोना वायरस से बेल्जियम में 9,821, कनाडा में 8,934, नीदरलैंड में 6,159, स्वीडन में 5,697, इक्वाडोर में 5,515, इंडोनेशिया में 4,781, चीन में 4,652, मिस्र में 4,606, इराक में 4,362, अजेर्ंटीना में 2,939, बोलीविया में 2,583, रोमानिया में 2,187, स्विट्जरलैंड में 1,977, फिलीपींस में 1,932, आयरलैंड में 1,764, ग्वाटेमाला में 1,734, पुर्तगाल में 1,717, पोलैंड 1,671,  यूक्रेन में 1,625, पनामा 1,294, किर्गिजस्तान 1,277 और अफगानिस्तान 1,259 लोगों की मौत हो चुकी है।           


प्रदेश में 6 अगस्त तक बढ़ाया लॉकडाउन

रायपुर। मुख्यमंत्री निवास में चली मैराथन बैठक के बाद आखिरकार प्रदेश में लाॅक डाउन आगामी बढ़ाए जाने का फैसला भूपेश सरकार ने लिया है। इस आदेश के मुताबिक अब उन सभी जिलों में जहां पर कोरोना संक्रमण तेजी से पांव पसार रहा है, उन सभी जिलों में 6 अगस्त तक लाॅक डाउन जारी रहेगा।


कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे ने कहा कि जिला के कलेक्टरों को निर्देशित किया गया है, वे अपने विवेक से लाॅक डाउन लगाएंगे। जिन जिलों में फिलहाल लाॅक डाउन लगाया गया है, यदि वहां स्थिति सुधरती है, तो कलेक्टर अपने विवेक से लाॅक डाउन हटा सकते हैं। मैराथन बैठक के बाद सरकार के प्रवक्ता एवं कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे ने बताया कि इस बैठक में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और वरिष्ठ विधायकों को भी आमंत्रित किया गया है। इस बैठक में प्रदेश के शेष निगम व मंडलों के अलावा आयोग में नियुक्ति को लेकर चर्चा हुई है।           


अंदोलन को युवाओं की सच्ची श्रद्धांजलि

वीर कान्हा दादा रावत और महाराजा सूरजमल की प्रतिमा स्थापित आंदोलन को युवा वर्ग ने दिया समर्थन


रतन सिंह चौहान
पलवल। वीर कान्हा दादा रावत और महाराजा सूरजमल की प्रतिमा स्थापित करने हेतु छेड़े गए अभियान में जाट समाज के युवा वर्ग ने अपनी आवाज बुलंद कर दिया है। युवा वर्ग के अभियान में जुड़ने से जाट जागृति पंचायत इस अभियान को सफल आंदोलन बनाने में कामयाब होते देखा जा रहा है। जाट समाज का युवा वर्ग उक्त मामले को लेकर हथीन के विधायक प्रवीण डागर से मुलाकात कर उन्हें ज्ञापन सौंपा है।
जाट जागृति पंचायत ने पलवल लघु सचिवालय में वीर दादा कान्हा रावत की प्रतिमा स्थापित करवाने और हथीन में महाराजा सूरजमल द्वार बनवाने के लिए एक अभियान चलाया हुआ है। जाट समाज ने उक्त मामले को लेकर एक जन जागरण अभियान शुरू किया है। इस अभियान को  जाट समाज के बहुसंख्य युवा वर्ग ने अपना समर्थन दे दिया है। बहुसंख्य युवा वर्ग के इस अभियान से जुड़ने पर जाट जागृति पंचायत के अभियान की प्रक्रिया मजबूत स्थिति में पहुंचने लगी है। गांव मर्रोली के युवा सेवा संघ ने इस अभियान को अपना समर्थन देते हुए कहा कि जाट समाज का हर एक युवा इस अभियान को आंदोलन का रूप देने में जुटा हुआ है। 
मर्रोली युवा सेवा संघ के अध्यक्ष मनोज मर्रोलिया ने कहा कि जाट समाज में इन महान शूरवीरों का विशेष योगदान रहा है। युवाओं को जाट समाज के महान विभूतियों से देशभक्ति की प्रेरणा मिलती है। जाट जागृति पंचायत के सदस्य लाल सिंह एडवोकेट ने कहा कि जाट जागृति पंचायत के कार्यकर्त्ता पिछले तीन सालों से सामाजिक गतिविधियों में शामिल हुए हैं। समाज में फैली कुरूतियों के खिलाफ आवाज उठाती रही है। विधायक प्रवीण डागर ने युवा प्रतिनिधि मंडल को आश्वस्त किया कि शीघ्र ही उक्त मामले में सरकार से बातचीत करेंगें।           


पौधारोपण कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी

शहीदों की याद में पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित कर शहीदों के परिजनों ने किया पौधरोपण


रतन सिंह चौहान
पलवल। कारगिल शहीदों के परिजनों ने कारगिल विजय दिवस पर शहीदों की याद में पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित किया। कार्यक्रम में गढ़ी गांव के शहीद राजवीर और शहीद समुद्र सिंह के परिवारों ने विशेष रूप से हिस्सा लिया। कार्यक्रम में शहर के शिक्षाविद, भारत संस्कार सभा, भारत स्काउट्स एंड गाइड्स तथा शहर के अनेक सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। शहीद राजवीर के भाई प्रताप सिंह एवं शहीद समुद्र सिंह के भाई रामफल ने संयुक्त रूप से पौधारोपण किया।
शिक्षाविद विष्णु गौड़ ने कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि सैनिकों के वीर गाथाओं से ही युवा पीढ़ी में देशभक्ति का जज्बा पैदा होता है। शहीदों के परिजनों को कोटि-कोटि नमन है जिनके परिवार में ऐसे वीर पुत्र पैदा होते हैं जो देश की सुरक्षा में अपने प्राणों की आहुति दे देते हैं। उन्होंने कहा आज शहीद परिवारों द्वारा पर्यावरण संरक्षण को पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित कर समाज को एक नई दिशा देने पर हमें उन पर गर्व करना चाहिए।
सामाजिक संस्था आर एस योगा संस्थान के निदेशक फतेह राम शर्मा ने कहा कि सामाजिक कार्यकर्ताओं को शहीद परिवारों का विशेष ध्यान देने की जरूरत है। इन परिवारों के कुर्बानियों को भुलाया नहीं जा सकता। पौधारोपण जीवन शैली का एक हिस्सा है। प्रत्येक कार्यकर्ता को कम से कम एक पौधा रोपण कर उसे उसके देखरेख की जिम्मेदारी निभानी चाहिए। इस अवसर पर स्काउट्स के जिला संगठन आयुक्त योगेश कुमार ने शहीद परिवारों को सम्मानित किया भारत संस्कार सभा के अध्यक्ष बृजेश भारद्वाज ने सभी आगंतुकों का धन्यवाद करते हुए कहा कि आज के युवा वर्ग को शहीदों के जीवन चरित्र से जुड़ीं गाथाओं का प्रचार प्रसार करना चाहिए। इस अवसर पर शिक्षा क्षेत्र से जुड़े प्रभु दयाल हंस, चैयरमेन राजकुमार तायल, प्रदीप मित्तल, गिरधारी लाल, दीपक, महेश आदि अनेक सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे।              


खासः जीबी रोड छोड़ रही है महिलाएं

रवि चौहान


नई दिल्ली। मास्क बनाने को दिए जाते हैं। एनजीओ में हर मास्क पर एक महिला को 5 रुपये से 7 रुपये तक मिलता है। अभी ये सब महिलाएं रोजाना 40 से 50 मास्क तक बना लेती हैं। कटकथा एनजीओ में कार्यरत प्रज्ञा बसेरिया, जो की हार्ट शाला प्रोजेक्ट पर काम कर रहीं हैं, ने आईएएनएस को बताया, हमारी एनजीओ में जीबी रोड से 10 महिलाएं मास्क बनाने आ रही हैं लेकिन 8 महिलाएं ऐसी है, जिन्होंने जीबी रोड छोड़ दिया है और अपनी एक नई जिंदगी की शुरूआत की है।उन्होंने कहा, हम अगले हफ्ते तक 5 और महिलाओं को अपने साथ शामिल करेंगे और वो सभी जीबी रोड छोड़ कर हमारे साथ आएंगी और मास्क बना कर अपनी जिंदगी यापन करेंगी। हमने हाल ही में वहां सर्वेय कराया थाए करीब 800 महिलाएं अभी भी जीबी रोड पर रह रहीं हैं।ष्जीबी रोड पर 22 बिल्डिंग है। इन सभी बिल्डिंग में कुल 84 कोठे है ंऔर हर कोठे का एक नम्बर होता है। ये सभी कोठे पहले, दूसरे और तीसरी मंजिल पर बसे हुए हैं। वहीं ग्राउंड फ्लोर पर टेलर,ए इलेक्ट्रिक शॉप, जनरल स्टोर आदि खुले हुए हैं। हर कोठे में 10 से 15 सेक्सवर्कर्स हैं और करीब 800 सेक्सवर्कर्स हैं।चांदनी (बदला हुआ नाम) ने आईएएनएस को बताया, मुझे इस लॉकडाउन में काफी परेशानी हो गई थी। उसके बाद मुझे एनजीओ की तरफ से मदद मिली, अब मैं रोजाना 30 मास्क बना लेती हूं। मुझे अभी अच्छा लग रहा हैए मुझे एनजीओ की तरफ से घर भी दिया गया है।           


बालियान ने विकास कार्यो का उद्घाटन किया

भानु प्रताप उपाध्याय


मुजफ्फरनगर। राजकीय इंटर कालेज के मैदान में मुजफ्फरनगर विकास प्राधिकरण द्वारा शहीद स्मारक, पार्क के सौन्दर्यकरण, एम्पीथियेटर, पाथ वे व मड हाउस आदि के निर्माण कार्य का शिलान्यास केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान तथा प्रदेश के कौशल विकास राज्यमंत्री कपिलदेव अ्रग्रवाल ने संयुक्त रूप से किया। मुजफ्फरनगर में महावीर चौक स्थित राजकीय इंटर कॉलेज मैदान का मुजफ्फरनगर विकास प्राधिकरण द्वारा सौंदर्यीकरण किया जाएगा। केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ0 संजीव बालियान के प्रयास से करोड़ों की लागत से राजकीय इंटर कॉलेज मैदान का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है, जिसमे एम्पीथियेटर, पाथ-वे, मड हाउस, बच्चों के खेलने के लिए सुंदर पार्क, झूले, ग्रामीण अंचल को दर्शाते हुए मिट्टी के घर आदि का निर्माण किया जाएगा जो कि एक वर्ष के अंतराल में बनकर तैयार हो जाएगा। आज राजकीय इंटर कॉलेज में केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ संजीव बालियान तथा राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार कपिल देव अग्रवाल ने पूजा अर्चना के साथ भूमि पूजन कर शिलान्यास किया। डॉ0 संजीव बालियान ने कहां कि राजकीय इंटर कॉलेज में ओपन थियेटर बनेगा, जिसमें देशभक्ति की फिल्में चलेगी एवं शाम के समय लोग यहां पर घूमने आया करेंगे। यह जनपद का एक ऐतिहासिक पार्क होगा। वही राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार कपिल देव अग्रवाल ने कहा कि केंद्रीय राज्यमंत्री डॉक्टर संजीव बालियान का यह एक बहुत ही सराहनीय कार्य है। राजकीय इंटर कॉलेज में यह ऐतिहासिक स्थल बनेगा जिसे लोग देखने के लिए आया करेंगे। इस पार्क में देशभक्ति की झलकियां भी बनेगी, जिससे लोगों में देशप्रेम की भावना जागृत हो सके।           


लापता किशोरी को पुलिस ने बरामद किया

पंकज कपूर


रुड़की। 15 दिन से लापता 15 वर्षीय किशोरी को पुलिस ने एक व्यक्ति के साथ रेलवे स्टेशन से बरामद कर लिया। आरोपी किशोरी को लेकर भागने की फिराक में था। उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर न्यायालय में पेश किया गया है।सिविल लाइंस कोतवाली के प्रभारी राजेश शाह ने बताया कि कोतवाली क्षेत्र के इमली रोड निवासी एक व्यक्ति ने 22 जुलाई को कोतवाली में तहरीर देकर बताया था कि उसकी 15 वर्षीय पुत्री 11 जुलाई को बिना बताए कहीं चली गई है तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने किशोरी की तलाशी के लिए टीम का गठन किया। जिसमें उप निरीक्षक अंकुर शर्मा, महिला उपनिरीक्षक करुणा रोंकली, कॉन्स्टेबल रामवीर और विनोद चपराना को शामिल किया गया। टीम ने सर्विलांस और मुखबिर के आधार पर किशोरी की तलाश शुरू की तो पता लगा कि किशोरी रेलवे स्टेशन पर एक व्यक्ति के साथ है उक्त व्यक्ति किशोरी को कहीं ले जाने की फिराक में है। पुलिस ने मौके पर दबिश देकर उक्त व्यक्ति को गिरफ्तार किया और किशोरी को बरामद किया। आरोपी ने अपना नाम मुकेश पुत्र गया प्रसाद निवासी मन्सापुर तहसील अकबरपुर जिला अंबेडकर नगर उत्तरप्रदेश बताया। कोतवाली प्रभारी ने बताया कि आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया।           


बैठक में घर नमाज अदा करने की अपील

बैठक में अपर तहसीलदार केएन पंत ने हाईकोर्ट व केन्द्र सरकार की गाइडलाइन का पालन करने सभी लोगों से आग्रह किया।
रुडकी। साबरी गेस्ट हाउस में ईदुल अजहा के मद्देनजर अपर तहसीलदार कृष्णानंद पंत व कलियर थानाध्यक्ष जगमोहन रमोला ने स्थानीय गणमान्य लोगों की शांति बैठक में ईदुल अजहा पर घरों में नमाज अदा करने की अपील की। साथ ही कहा कि इस बार कोविड-19 के चलते ईदुल अजहा की नमाज मस्जिदों में केवल पांच व्यक्ति ही अता करें। अपर तहसीलदार कृष्णानंद पंत ने लोगों से अपील की कि कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए इस बार ईदुल अजहा की नमाज घरों में अता करने के साथ ही पशुओं की कुर्बानी सार्वजनिक स्थानों पर न करें। साथ ही साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें। सोशल डिस्टेंसीग का पालन करें। बैठक में अपर तहसीलदार रुड़की कृष्णानंद पंत, पिरान कलियर थानाध्यक्ष जगमोहन रमोला, सलीम प्रधान, इरफान प्रधान,अकरम, इस्तकार सभासद, दानिश साबरी सभासद,
प्रवेज सभासद, मौलाना मुकर्रम साबरी, मौ० हाफिज फारुख रहमतपुर, मौ० तौसीफ दरियारपुर, मौ० नफीस निवादा गाडोवाला, मौ० इरशाद रजा महमूदपुर, मौ० साउद साबरी जमा मस्जिद दरगाह साबिर ए पाक, मौ० अहसान बाजुहेडी आदि लोग मौजूद रहे।           


हापुड़ विधायक ने पौधे वितरण किये

अतुल त्यागी


हापुड़। सदर विधायक हापुड़ विजयपाल आढती आर्य समाज के द्वारा आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। पर्यावरण के वातावरण को शुद्ध करने के उद्देश्य से आयोजित किए गए आयोजन में वृक्षारोपण पर विशेष चर्चा की गई। वृक्ष और मानव समाज के बीच संबंध पर विस्तृत चर्चा की गई। कार्यक्रम के आयोजक आर्य समाज के प्रधान नरेंद्र आर्य के नेतृत्व में विधायक द्वारा तुलसा जी के पौधों का वितरण किया गया। जहां उपस्थित अनुपम आर्य आर्य समाज मंत्री पूर्व जिला उपाध्यक्ष सुधीर गोयल ज़िला अध्यक्ष पिछड़ा वर्ग मोर्चा हेमंत सैनी शहर के सम्मानित व्यक्ति आदि लोग मौजूद रहे ।               


बिजली कर्मियों को जबरदस्ती पड़ी भारी

पंकज कपूर


रुद्रप्रयाग। कोरोना वायरस को लेकर लोग सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने के नियमों का पालन करें, इसके लिए पुलिसकर्मी आजकल ज्यादा ही चौकस हैं। लेकिन उत्तराखंड में कुछ बिजलीकर्मियों की हरकत चौंकाने वाली है। ज़िला पुलिस ने मास्क न पहनने पर जब दो बिजलीकर्मियों का चालान काटा तो पहले वे पुलिसकर्मियों से ही उलझ गए। इसके बाद उन्होंने कोतवाली और जिला जज आवास की बिजली ही काट दी। पुलिस के इस मामले के बिजली विभाग के आलाधिकारियों को बताने के बाद दोनों बिजलीकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। पुलिस ने भी उनके ख़िलाफ केस दर्ज कर लिया।


चेकिंग के दौरान पकड़ा


पुलिस के अनुसार कोतवाली रुद्रप्रयाग के सब-इंस्पेक्टर मनसूर अली और सब-इंस्पेक्टर विजय प्रताप राही, कांस्टेबल लखपत सिंह केदारनाथ तिराहे पर चेकिंग कर रहे थे। इस दौरान बेलणी पुल की तरफ से एक मोटरसाइकिल आती दिखाई दी, जिस पर 2 व्यक्ति सवार थे और दोनों ने ही मास्क नहीं पहना था। पुलिसकर्मियों के रोकने पर तो उन्होंने अपने नाम महावीर सिंह और सुरेंद्र सिंह लिंगवाल बताए और पता विद्युत वितरण खंड बेलणी रुद्रप्रयाग का ऑफ़िस बताया। दोनों व्यक्तियों को मास्क न पहनने पर महामारी अधिनियम में 100 रुपए जुर्माना लगाया गया। महावीर सिंह ने चालान जमा कर दिया, लेकिन सुरेंद्र सिंह ने नहीं किया।


बिजली विभाग ने किया निलंबित


पुलिसवालों के चालान काटने को लेकर दोनों ने बहस की और आरोप है कि पुलिसकर्मियों के साथ गाली-गलौज भी की। आरोप है कि दोनों ने पुलिसवालों के साथ धक्का-मुक्की की और बाद में देख लेने की धमकी तक दी। फिर वह वहां से अपनी मोटरसाइकिल से चले गए। इसके बाद इन दोनों ने कोतवाली और ज़िला जज आवास की बिजली काट दी। इस बारे में पता चलने पर एसपी रुद्रप्रयाग ने बिजली विभाग के एमडी से शिकायत की, तब जाकर कोतवाली की बिजली दोबारा जोड़ी गई। इसके बाद बिजली विभाग ने दोनों कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। पुलिस ने भी दोनों कर्मचारियों पर थाना कोतवाली में मुकदमा दर्ज कर लिया है।            


गाजियाबादः सूटकेस में बंद युवती का शव

साहिबाबाद मे युवती की हत्या, सूटकेस मे मिली लाश


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद/ साहिबाबाद। जनपद थाना क्षेत्र में बदमाशों ने एक युवती की हत्या कर दी हत्या के बाद बदमाशों ने उसकी लाश, सूटकेस के अंदर बन्द कर फेंक कर फरार हो गए  युवती का शव मिलने से फैली सनसनी,नवविवाहित युवती का शव सूटकेस में मिला,पुलिस ने  मौके पर पहुंच कर जांच शुरू कर दी। एसपी सिटी मनीष मिश्रा ने बताया कि युवती के शरीर पर चोट के कोई निशान नहीं है हत्या कैसे और कयो की गई तथा पहचान कराने की जांच  जाचं की जा रही।           


'कैलाश मानसरोवर' का कार्य लगभग पूरा

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। इंदिरापुरम के शक्तिखंड-4 में कैलाश मानसरोवर भवन का निर्माण कार्य लगभग पूरा हो चुका है। भवन में फिनिशिंग का कार्य चल रहा है। जुलाई के अंत तक यह भी पूरा हो जाएगा। बाहरी दीवारों पर जहां पत्थर लगाया गया है वहीं फर्नीचर का कार्य भी जल्द शुरू हो जाएगा। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट कैलाश मानसरोवर भवन का इंदिरापुरम में कार्य पूरा होने के बाद यहां से चार धाम और कैलास मानसरोवर यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए सुविधा मिल सकेगी। कैलाश मानसरोवर भवन का निर्माण धर्मार्थ विभाग उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम से करा रहा है। मार्च अंत तक इसका निर्माण कार्य पूरा करना था। मगर लॉकडाउन लागू होने से निर्माण कार्य रूक गया था। इसलिए अब जुलाई अंत तक पूरा हो जाएगा। 9 हजार वर्गमीटर में यह चार मंजिला भवन बना है। इसका निर्माण करने पर 108.39 करोड़ रुपए की लागत आई है। इसमें से जीडीए से 50.40 करोड़ रुपए की जमीन खरीदी गई। जबकि इसके निर्माण पर 57.99 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम के परियोजना अधिकारी एसके त्यागी ने बताया कि कैलाश मानसरोवर भवन में फर्श और दीवारों पर फिनिशिंग का कार्य चल रहा है। कैलाश मानसरोवर में फाइव स्टार होटल जैसी सुविधाएं मिलेंगी। इसमें एक वक्त में 280 श्रद्धालुओं को ठहराया जा सकता है। भवन में 94 कमरे बनवाए गए हैं। जिसमें से 46 कमरों में चार-चार बेड बिछाए जाएंगे। दो बेड वाले 48 बनाए गए हैं। कैफे, योगा कक्ष, ऑडिटोरियम, ध्यान कक्ष व पार्किंग बनाई गई है। करीब एक हजार वर्गमीटर में वाटिका बनाई गई है,जिसमें छोटे-बड़े हर तरह के पेड़- पौधे रहेंगे। कैलास मानसरोवर भवन का निर्माण अब जुलाई अंत तक पूरा होने के बाद भवन तैयार हो जाएगा।                                 


ट्रांस हिंडन में पुनर्निर्माण का कार्य शुरू

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। ट्रांस हिंडन क्षेत्र में वसुंधरा वार्ड 36 के सेक्टर 10 सी में 15 सालों से जर्जर पड़ी सड़क के पुनर्निर्माण का कार्य आज शुरू करा दिया गया। इस कार्य का शिलान्यास स्थानीय पार्षद अरविंद चौधरी चिन्टू द्वारा किया गया , इस सड़क का निर्माण इंटरलॉकिंग द्वारा किया जा रहा है जिसकी लागत 17 लाख रुपए है।


इस कार्य से उस क्षेत्र के रहने वाले सैकड़ों को लोगों लाभ मिलेगा। पार्षद अरविंध चौधरी ने बताया कि इस सड़क के निर्माण को लेकर नगर निगम से काफी समय से वार्ता चल रही थी , लेकिन कभी प्रदूषण तो कभी लॉकडाउन ने इस कार्य की गति को धीमा कर दिया। लंबे समय के इंतजार के बाद आखिर सड़क का निर्माण कार्य शुरू करा दिया गया है । इस शिलान्यास समारोह में नगर निगम निर्माण विभाग के अवर अभियंता गणेशी लाल व स्थानीय निवासी सुमित चौधरी , के.के. वर्मा , एन.डी. शर्मा , एम.पी. सिंह, अमर सिंह , जगदीश ऑरोरा और उमेश गुप्ता आदि उपस्थित रहे।                 


                     


कानपुरः 31 जुलाई तक लॉकडाउन लागू

कानपुर। कोरोना संक्रमण के प्रसार को थामने की कवायद के तहत उत्तर प्रदेश में कानपुर जिला प्रशासन ने शहर के दस थाना क्षेत्रों में लॉकडाउन 31 जुलाई तक बढ़ाने का फैसला लिया है। हालांकि 20 जुलाई को लागू लॉकडाउन की बंदिशें दो थाना क्षेत्रों से हटाई गई है जबकि इनके स्थान पर दो नए क्षेत्रों को 10 की सूची मे जोड़ा गया है।


कानपुर के डीएम डॉ. ब्रहमदेव राम तिवारी ने रविवार देर रात बताया कि पिछले सोमवार को लागू पूर्ण लॉकडाउन के अनुकूल परिणाम मिल है। कोरोना संक्रमण के प्रसार को थामने के लिये आठ क्षेत्रों में पहले से लागू लॉकडाउन को 31 जुलाई रात 10 बजे तक बढ़ाने का फैसला किया गया है। जबकि इस सूची में ग्वालटोली और फीलखाना क्षेत्र का नाम जोड़ा गया है और इन्हे मिलाकर पहले की तरह 10 क्षेत्रों में लाकडाउन लागू रहेगा। इससे पहले किदवईनगर और नवाबगंज में लॉकडाउन की बंदिश को हटाया गया है। डीएम ने बताया कि जिले के चकेरी, कल्याणपुर, नौबस्ता, बर्रा, गोविन्द नगर, काकादेव, कोतवाली, स्वरूप नगर, फीलखाना और ग्वालटोली में वृहद कन्टेनमेन्ट जोन की श्रेणी में रखते हुए पूर्ण लॉकडाउन आज रात से शुक्रवार रात तक लगाया गया है। इसके साथ ही सरकार के आदेशानुसार शनिवार और रविवार को भी इन थाना क्षेत्रों में पूर्ण लॉकडाउन रहेगा।


डीएम ने बताया कि यह लॉकडाउन सम्बन्धित थाना क्षेत्रों के कोविड संक्रमण की समीक्षा के बाद आवश्यकता पड़ने पर पुन: आगे की स्थिति पर निर्णय किया जायेगा। गौरतलब है कि कानपुर में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 202 नए मामले सामने आए है जिसके बाद यहां सक्रिय मरीजों की संख्या 1791 हो गई है। राज्य में कोरोना संक्रमितों की सबसे ज्यादा 172 मौतें भी कानपुर में ही हुई है।           


सीएम का फैसला, भूखी नहीं मरेगी गाय

लखनऊ। बड़ी संख्या में गाय गौशालाओं में दम तोड़ रही हैं। कभी हफ्तेभर बाद तो कभी महीने में एक-दो बार गायों के भूख से मरने की खबरें सामने आती हैं। लेकिन अब गाय भूख से दम नहीं तोड़ेंगी। उन्हें गौशालाओं में खाने को भरपेट चारा दिया जाएगा। इसके लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक बड़ा फैसला लिया है। सरकार के इस फैसले से गायों का पेट भी भरेगा तो यूपी में प्रदूषण भी कम होगा। इसके लिए सरकार अलग से बजट जारी करेगी। इस बारे में पशुपालन विभाग की ओर से सभी पशु चिकित्सा अधिकारियों समेत और भी दूसरे विभागों के अधिकारियों को लेटर भेज दिया गया है।
गायों के लिए ऐसे होगा चारे का इंतजामः मनोज कुमार (प्रमुख सचिव, उत्तर प्रदेश शासन) ने पत्र जारी करते हुए लिखा है कि फसल कटाई के दौरान बाज़ार में भूसा सस्ते दाम पर मिल जाता है। लेकिन, कुछ दिन बाद ही भूसे के दाम बढ़ जाते हैं। इसके चलते गौशालाओं में भूसे का इंतज़ाम करना मुश्किल हो जाता है। गौशालाओं के कायदे-कानून के मुताबिक वहां भूसे का स्टॉक भी नहीं किया जा सकता है। ऐसे में गायों को भूसा खिलाना मुश्किल हो जाता है। इसी परेशानी का रास्ता निकालने के लिए यह योजना शुरू की गई है।       


आगराः होटल में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़

आगरा। आगरा पुलिस ने एक स्थानीय नेता के सिकंदरा स्थित गेस्ट हाउस और होटल में चल रहे एक सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है। पुलिस के अनुसार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सौरभ दीक्षित ने इस मामले में एक प्राथमिकी दर्ज की है। नेता के फार्महाउस पर छापेमारी में पुलिस ने कोलकाता की तीन महिलाओं सहित 12 लोगों को गिरफ्तार किया। इन सभी पर इम्मॉरल ट्रेड (प्रिवेंशन) एक्ट, 1956 और आर्म्स एक्ट, 1959 के तहत मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने छापेमारी के दौरान कुछ नकदी और देसी हथियार भी बरामद किए हैं। आगरा के बंद होटलों में नेता ने आरोप लगाया कि उन्हें झूठे मामले में फंसाया जा रहा है। आगरा पुलिस अधीक्षक (शहर) रोहन बोत्रे ने कहा, "एक कथित लूट के प्रयास के मामले की जांच के दौरान हमारी टीम को होटलों और एक फार्महाउस में चलाए जा रहे एक सेक्स रैकेट का इनपुट मिला था। एएसपी सौरभ दीक्षित के नेतृत्व में की गई छापेमारी में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया गया। 


एक्सप्रेस-वे पर हादसे में 6 लोगों की मौत

कन्नौज। जिले में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर एक भीषण हादसा हुआ जिसमें छह लोगों की मौत हो गई जबकि कई घायल हो गए। जानकारी के अनुसार एक तेज रफ्तार वाली बस ने एक कार को टक्कर मार दी जिसके बाद कार डिवाइडर से टकरा गई और एक्सप्रेस-वे के नीचे गिर गई। इस दर्दनाक हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई है जबकि 20 से अधिक लोग घायल हो गए है। मेथी की जगह 'भांग की सब्जी' का परिवार ने किया सेवन, हो गएं सब बेहोश, अस्पताल में चल रहा इलाज। इस हादसे की सूचना लगते ही घटना स्थल पर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी पहुंच गए। घायलों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं वहीं इस घटना में मारे लोगों के शवों को पुलिस ने अपने कब्जे में लिया है और उनकी शिनाख्त में जुट गई है।           


भू माफियाओं ने एडीएम को धमकी दी

बलिया। जिले के अपर जिलाधिकारी व सीआरओ प्रवरशील बरनवाल को भू-माफियाओं ने धमकी दी है। इतना ही नहीं भू-माफियाओं ने मिर्जापुर जिले के भरुहां गांव में एडीएम के माता की जमीन पर भी कब्जा का भी कर लिया है। सीआरओ ने इस मामले से जिलाधिकारी बलिया के अलावा मंडलायुक्त व पीसीएस एसोसिएशन को भी अवगत कराया है।
एडीएम व सीआरओ की गुहार पर डीएम श्रीहरि प्रताप शाही ने मिर्जापुर के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को एक पत्र लिखा है। यह पत्र 23 जुलाई को लिखा गया है। जिसमें डीएम ने लिखा है कि प्रवरशील बरनवाल उत्तर प्रदेश प्रशासनिक सेवा के अफसर हैं। वह अभी बलिया में बतौर अपर जिलाधिकारी (भू राजस्व) और मुख्य राजस्व अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं।


प्रवरशील बरनवाल की माताजी ने मिर्जापुर के भरूहा गांव में एक भूमि खरीदी है। जिस पर प्रवरशील बरनवाल सेवानिवृत्ति के बाद मकान बनाकर रहना चाहते हैं। इस जमीन पर अच्छे प्रताप सिंह, इंदिरा सिंह, विजय सिंह और धेनु शुक्ला नाम के व्यक्तियों ने कब्जा कर लिया है। ये लोग प्रभावशाली व्यक्ति हैं और भूमाफिया किस्म के हैं।


इनके खिलाफ विभिन्न थानों में गंभीर आपराधिक मामले भी दर्ज हैं। ये लोग एडीएम का मकान बनने नहीं दे रहे हैं। निर्माण कार्य में लगातार बाधा उत्पन्न कर रहे हैं और उनको धमकाया और डराया जा रहा है। इस बारे में प्रवरशील बरनवाल ने अपर पुलिस महानिदेशक एंटी करप्शन ऑर्गेनाइजेशन और अपर पुलिस महानिदेशक टेलीकॉम को भी प्रार्थना पत्र भेजा है। जिलाधिकारी ने इस मामले में मिर्जापुर के डीएम और एसपी से मामले की जांच कर सहयोग करने की अपेक्षा व्यक्त की है। 
प्रवरशील बरनवाल ने बताया कि संबंधित भू माफिया के खिलाफ 70 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं लेकिन जिला प्रशासन व पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। मामले से डीएम, मंडलायुक्त व पीसीएस एसोसिएशन को अवगत कराया है और सभी ने मिर्जापुर के डीएम को पत्र लिखा है।
हां! सीआरओ प्रवरशील बरनवाल की शिकायत का संज्ञान लेते हुए हमने मिर्जापुर के डीएम को एक पत्र लिखा है। पत्र में यही है कि मामले की जांच कराकर न्यायसंगत कार्रवाई कराएं।           


सीएम योगी की मुहिम-समीक्षा जारी

लखनऊ। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रसार के बीच में भी उत्तर प्रदेश सरकार की इसपर अंकुश लगाने की मुहिम जारी है। सीएम योगी आदित्यनाथ अनवरत समीक्षा करने के साथ ही साथ हर रोज नये उपाय पर भी जोर दे रहे हैं। उत्तर प्रदेश में सैंपल टेस्टिंग भी जोरों पर है। उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य बन गया है, जहां पर एक दिन में एक लाख से अधिक टेस्ट हो रहे हैं। टेस्ट की संख्या बढऩे के साथ ही संक्रमितों की संख्या भी विस्तार ले रही है।


सीएम योगी आदित्यनाथ प्रतिदिन अपने सरकारी आवास पर टीम-11 के साथ कोरोना वायरस संक्रमण पर समीक्षा बैठक करने के साथ जिलों का भी दौरा करते हैं। दौरा भी ऐसा होता है कि एक दिन में तीन जिलों में जाकर वहां के अस्पतालों का हाल देखने के साथ जिलों के शीर्ष अधिकारियों के साथ समीक्षा की जाती है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को ही अपनी कर्मस्थली गोरखपुर के बाद बलिया व वाराणसी का दौरा किया था।             


'डिजिटल कैडेट' युवाओं को देगा रोजगार

लखनऊ। यूपी में राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस के तहत स्थापित सीएससी (कॉमन सर्विस सेंटर) प्रदेश भर में तीन लाख से अधिक युवाओं को डिजिटल कैडेट बनाकर रोजगार से जोड़ेगा। यह डिजिटल कैडेट सीएससी की तमाम सेवाओं को लोगों के घरों तक पहुंचाएंगे। कैडेट्स का चयन और रजिस्ट्रेशन होगा । विभिन्न सेवाओं के लिए इन्हें ट्रेनिंग भी दी जाएगी। 


हर सीएससी पर रखे जाएंगे पांच कैडेटः प्रदेश में करीब 70 हजार सीएससी सक्रीय हैं। इनके संचालकों यानी वीएलई (विलेज लेवल इंटरप्राइजेज) से पांच-पांच कैडेट रखे जाने को कहा गए हैं। घर-घर तक पहुंचाएंगे सीएससी की सेवाएंः सीएससी के राज्य प्रमुख अतुलित राय बताते हैं कि  डिजिटल कैडेट्स ग्रामीण ई-स्टोर्स, किसान ई-मार्ट जैसी अन्य तमाम सेवाओं को घर-घर तक पहुंचाएंगे। वहीं सरकार व अन्य एजेंसियों के सर्वे आदि भी करेंगे। जैसे अभी देश की आर्थिक गणना का काम सीएससी के वीएलई ही कर रहे हैं। इस वर्ष के अंत तक इनका चयन किया जाना है।  होगा पंजीकरण,  मिलेगी ट्रेनिंगः राज्य प्रमुख अतुलित राय बताते हैं ऐसे युवा जो सीएससी के साथ काम करना चाहते हैं उनको सीएससी की वेबसाइट पर जाकर अपना पंजीकरण करना होगा। नियुक्ति वीएलई ही करेंगे। सत्यापन के बाद संबंधित सीएससी से जुड़ सकेंगे। इनकी कमाई इनके काम पर निर्भर करेगी। कौशल विकास के लिए इनकी ट्रेनिंग भी होगी।           


यूपी में तेजी से फैल रहा है संक्रमण

लखनऊ। यूपी कोरोना वायरस संक्रमण अपना रौद्र रूप दिखा रहा है। प्रदेश में लगातार मरीजों की संख्या बढ़ रही है। रविवार को प्रदेश में रिकॉर्ड 3260 मरीज मिले हैं। एक दिन में पहली बार तीन हजार से अधिक मरीज मिले हैं। इससे पहले शनिवार को 2984 कोरोना पॉजिटिव मिले थे। 
अब प्रदेश में 23921 एक्टिव मरीज हैं। 41641 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। कुल 1426 की मौत हो चुकी है। रविवार को भी 39 मरीजों ने दम तोड़ा, जबकि 1741 को डिस्चार्ज किया गया है। अब तक प्रदेश में 67015 कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आ चुके हैं। प्रदेश के अवस्थापान और औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टंडन ने बताया कि अब तक प्रदेश में 18,34,397 नमूनों की जांच की जा चुकी है। 


स्वास्थ्य विभाग से जारी रिपोर्ट के अनुसार जिलों में रविवार को सबसे अधिक 449 मरीज लखनऊ में मिले हैं। इसके बाद कानपुर में 202, वाराणसी में 145, बलिया 128, नोएडा 110, गोरखपुर 107, मुरादाबाद में 103 और बरेली में 101 मरीज सामने आए हैं। आगरा में 20, अलीगढ़ 46, अंबेडकरनगर, 07, अमेठी 05, अमरोहा 60, अयोध्या 91, आजमगढ़ 58, बदायूं 13, बागपत 09, बलरामपुर 05, बांदा 07, बाराबंकी 34, बस्ती 41, बहराइच 24, भदोही 25, बिजनौर 03, बुलंदशहर 31, चंदौली 57, चित्रकूट 06, देवरिया 50, एटा 18, इटावा 17, फर्रुखाबाद 07, फतेहपुर 07, फिरोजाबाद 18, गाजियाबाद 78, गाजीपुर 63, गोंडा 29, हमीरपुर 15, हरदाई 27, हाथरस 01, जालौन 02, झांसी 84, कन्नौज 67, कानपुर देहात 321, कासगंज 09, कौशांबी 07, कुशीनगर 28, लखीमपुर खीरी 13, महराजगंज 20, मऊ 24, मेरठ 31, मुजफ्फरनगर 04, पीलीभीत 62, प्रतापगढ़ 17, प्रयागराज 98, रायबरेली 84, रामपुर 44, सहारनपुर 47, संभल 15, संतकबीरनगर 17, शाहजहांपुर 76, शामली 17, श्रावस्ती 02, सिद्धार्थनगर 16, सीतापुर 36, सोनभद्र 12, सुल्तानपुर 07, उन्नाव में 43 मरीज मिले हैं।           


जौनपुर से वाराणसी यात्रा पड़ेगी महगींं

वाराणसी की यात्रा करने पर अब जेब करनी होगी ढीली


जौनपुर/ वाराणसी। जौनपुर से वाराणसी जाने के लिए लोगों को अब अपनी जेब ढीली करनी होगी। वजह कि वाराणसी-लखनऊ राजमार्ग पर जलालपुर हौज के पास अब टोल प्लाजा का निर्माण कराया जाएगा। ऐसे में अपने वाहन से यात्रा करते हैं तो वहां टोल टैक्स देना होगा। यह नियम दो व तीन पहिया वाहन को छोड़कर सभी बड़े वाहनों पर लागू होगा। हालांकि जिला मुख्यालय से वाराणसी तक का यह सफर लोगों का महज 30 से 40 मिनट में पूर्ण हो जाएगा। इससे लोगों को राहत मिलेगी।


वाराणसी-लखनऊ राजमार्ग के फोरलेन निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया के लिए वर्ष 2012 में गजट प्रकाशित किया गया। वहीं निर्माण कार्य 2015 से शुरू हुआ। इसमें कभी भूमि अधिग्रहण तो कभी कार्यदाई संस्था की लेटलतीफी के कारण आज तक काम नहीं पूरा हो सका। कार्यदाई संस्था गायत्री कंस्ट्रक्शन को बनाया गया। वाराणसी से लखनऊ तक 256 किमी के फोरलेन निर्माण के लिए सरकार का करीब 4200 करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं। ऐसे में सरकार की तरफ से इस 300 किमी की सड़क पर चार टोल प्लाजा बनाए गए हैं, जिससे आम लोगों से आरामदायक सफर व खर्च के एवज में टैक्स की वसूली की जा सके। जिले के हिस्से में एक टोल प्लाजा आ रहा है। यह जलालपुर के हौज में बनाया जाएगा। बची हुई शेष सड़क का निर्माण कार्य छह माह में पूर्ण हो जाएगा तो टोल प्लाजा का कार्य शुरू कराया जाएगा। यह टैक्स अगले 20 से 30 वर्षों तक वसूला जाएगा।             


बीआरडी कॉलेज में तीन लोगों की मौत

गोरखपुर। बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज में तीन लोगों की मौत हो गई। मृतकों में एक कुशीनगर व दो गोरखपुर के हैं। इसके अलावा रविवार को कोरोना संक्रमण के कुल 518 नमूनों की जांच हुई। 476 निगेटिव व गोरखनाथ के एक निजी चिकित्सक समेत 42 में संक्रमण की पुष्टि हुई। इनमें से 32 शहर के हैं। जिले अब संक्रमितों की संख्या 1582 हो गई है। 751 ठीक होकर घर गए। 39 की मौत हो चुकी है। 792 का इलाज चल रहा है। दो दिन पहले मेडिकल कॉलेज में भर्ती कुशीनगर के कुबेरनाथ निवासी 55 वर्षीय प्रह्लाद, गोरखपुर के मिर्जापुर निवासी 54 वर्षीय सलीम व सहजनवां के बेलवा निवासी 47 वर्षीय वीरेंद्र नाथ यादव की मौत हो गई। प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने बताया कि सभी शव कोविड 19 प्रोटोकाल के तहत स्वजन को सौंप दिए गए।


लगातार बढ़ रहे संक्रमण के बीच रविवार थोड़ी राहत दे गया। अपेक्षाकृत इस दिन संक्रमितों की संख्या कम रही। रेलवे चिकित्सालय में एक संक्रमित को छोड़कर किसी सरकारी कार्यालय के किसी व्यक्ति में संक्रमण नहीं मिला। शहर के 23 स्थानों से लिए गए नमूनों में 32 लोग संक्रमित पाए गए। 10 संक्रमित ग्रामीण इलाकों से हैं। सीएमओ डॉ. श्रीकांत तिवारी ने बताया कि संक्रमितों के गांव व मोहल्ले सील कर दिए गए हैं। सैनिटाइजेशन कराया जा रहा है।           


पुलिसकर्मियों को संक्रमण के डर ने सताया

प्रमोद राही


लखनऊ। थाना मोहनलालगंज में कई पुलिस कर्मियों की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट मिलने के बाद  क्षेत्र के अन्य थानों के पुलिस कर्मियों में भी कहीं न कहीं डर बना हुआ है।  इसी क्रम में निगोहां थाने में बाहर से पहुंचे नई भर्ती के 35 पुलिस कर्मियों की सभी पुलिस कर्मियों की रैपिड एंटीजेन किट द्वारा कोरोना जांच की गई। जिसमें सभी पुलिसकर्मी नेगेटिव पाए गए। जिसके बाद सभी लोगों ने राहत की सांस ली। लैब टकनेशियन घनश्याम ने बताया कि थाने में मौजूद अन्य पुलिस कर्मियों की भी सोमवार को जांच की जाएगी।                  


रावत के खिलाफ कड़े विरोध की तैयारियां

देहरादून। सीएम त्रिवेंद्र रावत के बयान को लेकर तीर्थ पुरोहित विरोध की रणनीति बना रहें है। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने चारो धाम की यात्रा बाहरी राज्यों के यात्रियों के लिए खोलने का विरोध करने वालो को कांग्रेसी बता दिया। सीएम ने अति उत्साह मीडिया में बयान दिया था। सीएम ने कहा कि, मैं विरोध करने वालों को पिछले 20 सालों से जानता हूं, उन्हें नाम और चेहरे से पहचानता हूं। सीएम ने कहा कि जो विरोध कर रहें हैं वो तीर्थ पुरोहित नहीं, कांग्रेसी हैं। जिसके बाद तीर्थ पुरोहितो ने इस बयान को लेकर गहरी नाराज़गी व्यक्त की है सूत्रों की माने तो मुख्यमंत्री के जरिये उन्हें कांग्रेसी बताये जाने से उन्हें गहरी ठेस पहुंची है और वे कड़े विरोध की रणनीति तैयार कर रहे है अब देखना यह है की मुख्यमंत्री क्या निर्णय लेते है ?

कांग्रेस का बीजेपी पर वार


सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के बयान के बाद कांग्रेस को सत्ताधारी पार्टी को घेरने का मौका मिल गया है। कांग्रेस ने चार धाम देवस्थानम श्राइन बोर्ड के बहाने सरकार पर तीर्थ पुरोहितों की अनदेखी का आरोप लगाया है। कांग्रेस ने कहा है कि देवस्थानम बोर्ड के गठन के बाद से ही तीर्थ पुरोहितों की हितों की अनदेखी हो रही है। अपने बयान से सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत विवादों में घिरते नजर आ रहें हैं। ऐसे में सरकार को तीर्थ पुरोहितों की नाराजगी को कैसे दूर करती है। ये देखने वाली बात होगी फ़िलहाल कांग्रेस इस बयान को लेकर क्या नई रणनीति अपनाती है। यह भी खुद में एक सवाल है।       

बढ़ते संक्रमण को देख बाजार किया बंद

बरेली। बड़ा बाजार में गली आर्य समाज स्थित सभी साड़ी व लेडीज सूट की दुकानें व्यापारियों ने आज से 3 अगस्त तक बंद कर दी है। सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान कोरोना महामारी को देखते हुए सुरक्षा के लिहाज से बंद किए गए हैं। संक्रमण फैलने को लेकर व्यापारी वर्ग भी दहशत में है। अभी तक व्यापारी पूरा बाजार खुलवाने पर जोर दे रहे थे। अब बाजार बंद रखने पर जोर दे रहे हैं।             


एनएच-75 पर सड़क हादसे में 8 की मौत

मुरसलीम खान


छतरपुर। बमीठा चन्द्रनगर के पास एनएच 75 पर दो मोटरसाइकिलो कि स्कार्पियो से भीषण भिड़ंत होने से आठ लोगो की मौके पर मौत, स्कार्पियो क्रमांक दो मोटरसाइकिलों से टकराकर रोड के नीचे 10 फिट की गहराई में जा गिरी थी, स्कार्पियो में सबार सभी लोगो की मौत एक बाइक में सवार लोगो की मौत हुई हैं, बमीठा पुलिस मौके पर पहुंची थी पर जब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी थी।


भारत के लिए राफेल विमान ने भरी उड़ान

नई दिल्ली/ पेरिस। जिस लड़ाकू विमान को लेकर भारत में जमकर सियासी विवाद हुआ और जिसकी चर्चा देश-दुनिया में जमकर हुई। उस लड़ाकू विमान ने अब भारत के लिए उड़ान भर ली है। बात ‘राफेल’ की हो रही है। फ्रांस से भारत के लिए आज पाँच लड़ाकू विमान ‘राफेल’ ने पहली उड़ान भर ली है। राफेल लड़ाकू विमान का पहला जत्था आज फ्रांस के मेरिग्नाक बेस से रवाना हुआ। एक बाद एक राफेल ने उड़ान भरी है। उड़ान भरने के दौरान का वीडियो रोमांचित करने देने वाला है। बुधवार 29 जुलाई को राफेल भारतीय वायुसेना में शामिल हो जाएगा। भारत में राफेल की लैडिंग अंबाला एयरपोर्ट पर होगी। अंबाला पहुँचने से पहले पाँचों लड़ाकू विमान अबूधाबी के करीब अल-दफ्रा फ्रेंस एयरबेस पर हॉल्ट करेंगे। इन विमानों में दो ट्रेनर एयरक्राफ्ट हैं और तीन लड़ाकू. मेरिग्नाक में रफाल बनाने वाली कंपनी,‌ दसॉ (दसॉल्ट) की फैसेलिटी है जहां उनका निर्माण हुआ है।


वहीं भारत के अंबाला एयरबेस पर राफेल लड़ाकू विमानों की उतरने की पूरी तैयारी कर ली गई है। जानकारी के मुताबिक राफेल फाइटर जेट्स की तैनाती के लिए अंबाला एयरबेस पर अलग से इंफ्रैस्ट्रक्चर तैयार किया गया है जिसमें हैंगर (विमानों के खड़े करने की जगह), एयर-स्ट्रीप और कमांड एंड कंट्रोल सिस्टम शामिल है। रफाल की पहली स्कॉवड्रन को ‘गोल्डन ऐरो’ का नाम दिया गया है। भारतीय वायुसेना में राफेल का शामिल होना दक्षिण एशिया में ‘गेमचेंजर’ माना जा रहा है। क्योंकि रफाल 4.5 जेनरेशन मीडियम मल्टीरोल एयरक्राफ्ट है। मल्टीरोल होने के कारण दो इंजन वाला (टूइन) रफाल फाइटर जेट एयर-सुप्रेमैसी यानि हवा में अपनी बादशाहत कायम करने के साथ-साथ डीप-पैनेट्रेशन यानि दुश्मन की सीमा में घुसकर हमला करने में भी सक्षम है। बताया जा रहा है कि राफेल लड़ाकू विमानों को पूर्वी लद्दाख सेक्टर में तैनात किया जाएगा। हालांकि अभी इस कोई अधिकृत बयान नहीं आया है। लेकिन चीन के साथ जारी विवाद के मद्देनज़र नियंत्रण के नजदीक तैनात किए जाने की संभावना है। गौरतलब है कि भारत ने लगभग 58 हजार करोड़ रुपये में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए सितंबर 2016 में फ्रांस के साथ एक अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इन 36 राफेल विमानों में से 30 लड़ाकू विमान और छह प्रशिक्षण देने वाले विमान शामिल हैं।             


जाल में फंसी 780 किलो की मछली

कोलकाता। एक फ्लाइंग शिप की तरह नजर आने वाली करीब 800 किलो की विशाल मछली पकड़ में आई है जो 20 लाख रुपये में बिकी। यह मछली बहुत दुर्लभ है जो इससे पहले इस इलाके में नहीं देखी गई थी। यह विशाल मछली पश्चिम बंगाल के दिघा में पकड़ी गई। पश्चिम बंगाल के दिघा में एक ट्रॉलर से 780 किलोग्राम की मछली पकड़ में आई जिसका नाम चिलशंकर फिश है। फिशरमैन इस विशाल मछली को पकड़कर बहुत ही खुश हुए।


सोमवार को जिस ट्रॉलर से यह विशाल काले रंग की मछली पकड़ी गई, उस ट्रॉलर का मालिक ओडिशा का है। दिघा में जब यह मछली पकड़ी गई तो उसके आसपास लोकल टूरिस्ट की भीड़ सी लग गई। अपने भारी वजन के कारण मछली कोई मूवमेंट नहीं कर पा रही थी। इस मछली को रस्सी से बांधकर एक वैन में रखा गया जो मोहाना फिशर एसोसिएशन से ली गई थी। इसकी जब मार्केट में बोली लगी तो 2100 रुपये प्रति किलोग्राम का भाव मिला। इस तरह मछुआरे को मछली की पूरी कीमत करीब 20 लाख रुपये मिली। लॉकडाउन के दौरान यह मछुआरे के लिए किसी लॉटरी निकलने की तरह है।


एक लोकल फिशरमैन अजिरुल ने बताया कि यह एक चिलशंकर फिश है जिसका वजन करीब 800 किलोग्राम है। इसकी मार्केट कीमत 2100 रुपये प्रति किलोग्राम है।हमने ऐसी बड़ी और दुर्लभ मछली आज से पहले कभी नहीं देखी है। इस मछली के तेल और हड्डियों से दवाई बनाई जाती है। बाकी की हिस्सा मानसून के दौरान खाने की डिश की तरह इस्तेमाल होता है।          


छत्तीसगढ़ः लॉकडाउन लागू करने पर विचार

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में तेजी से कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि हो रही है। लॉकडाउन में भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में कमी नहीं होने से सरकार की चिंता बढ़ गई है। इसे लेकर आज मुख्यमंत्री ​भूपेश बघेल अपने निवास पर कोरोना की समीक्षा बैठक कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक प्रदेश के कई जिलों में 15 से 20 दिनों तक सख़्त लॉकडाउन किये जा सकते है।


इस बैठक में मंत्री रविन्द्र चौबे, मोहम्मद अकबर, कवासी लखमा सहित प्रशासनिक अफसर भी शामिल हुए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में यह बैठक हो रही है। वहीं संभवता फिर से राजधानी रायपुर में लॉकडाउन की घोषणा हो सकती है।             


रूस ने चीन की मिसाइल डिलीवरी रोकी

मॉस्को। भारत से तनाव के बीच चीन को उसके मित्र देश रूस ने बहुत बड़ा झटका दिया है। रूस ने चीन को एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की डिलिवरी रोक दी है। चीन ने इसे दबाव में लिया गया फैसला बताया है। हालांकि, उसने किसी देश का नाम नहीं लिया लेकिन, उसका इशारा साफ तौर पर भारत और अमेरिका की तरफ है। एस-400 दुनिया का सबसे बेहतरीन मिसाइल डिफेंस सिस्टम है। रूस के अलावा सिर्फ चीन के पास इसकी कुछ यूनिट हैं। भारत को इसकी पहले खेप इसी साल मिलने वाली है।


न्यूज एजेंसी के मुताबिक, “इस बार रूस ने साफ कर दिया है कि वो चीन को एस-400 मिसाइल की डिलिवरी रोक रहा है।” चीन की एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है- इस कदम से साफ हो जाता है कि सिर्फ हथियार खरीद का समझौता करने से कुछ नहीं होता। जरूरी यह है कि सिर्फ बिल नहीं वे हथियार भी आपको मिलें। चीन के एक न्यूज पेपर ने इस बाबत लिखा है कि रूस ने एस-400 की डिलीवरी को आगे तक के लिए बढ़ा दिया है। यह काफी पेंचीदा मामला है। रूस लगातार मिसाइल सिस्टम को खरीदने के लिए दबाव बना रहा था लेकिन महामारी के दौरान हथियार खरीदना कोरोना के खिलाफ पीपल्स लिबरेशन आर्मी को कमजोर कर सकती है। चीन ने भारत से पहले इस मिसाइल सिस्टम को खरीदने का फैसला किया था। पहला बैच उसे 2018 में मिल भी चुका है। भारत को इस साल के आखिर तक यह सिस्टम मिल जाएगा। खास बात ये है कि रूस ने चीन की डिलिवरी को तो रोक दिया है लेकिन भारत को वक्त पर मिसाइल देने का वादा दोहराया है। रूस ने यह फैसला ऐसे समय लिया है जब हाल ही में उसने चीन पर जासूसी का आरोप लगाया है। रूस ने पिछले दिनों अपनी सेंट पीटर्सबर्ग आर्कटिक सोशल साइंस एकेडमी के प्रेसिडेंट वेलेरी मिटको को गिरफ्तार किया था। वेलेरी पर खुफिया एजेंसियां कई महीनों से नजर रख रही थीं। उन पर आरोप है कि उन्होंने चीन के बेहद संवेदनशील सैन्य जानकारियां दीं और बदले में पैसे लिए। इसके बाद से दोनों देशों के रिश्तों में तनाव आ गया।           


इजरायल के विदेश मंत्री से बातचीत

येरुशलम। इजराइल के विदेश मंत्री गबी अश्केनाजी ने रविवार को अपने भारतीय समकक्ष एस जयशंकर से बातचीत की और उन्होंने कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में सहयोग को और मजबूत करने का वादा किया। दोनों नेताओं की बातचीत ऐसे समय हुई है, जब 30 सेकेंड में कोविड-19 जांच करने में सक्षम जांच किट विकसित करने के लिए इजराइल का उच्च स्तरीय दल नयी दिल्ली के लिए रवाना हुआ है। अश्केनाजी ने ट्वीट किया, ‘‘ मैंने भारत के विदेशमंत्री एस जयशंकर से बात की। मैंने चिकित्सा उपकरण लेकर भारत के लिए रवाना हुए इजरायली उड़ान की जानकारी दी। हम कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में अपनी साझेदारी को मजबूत करने पर सहमत हुए हैं।’’ इजराइली विदेश मंत्री ने भारत के विदेश मंत्री का सहयोग के लिए आभार जताया और यथाशीघ्र मिलने पर सहमति जताई। इससे पहले जयशंकर ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ भारत-इजराइल साझेदारी मौजूदा समय में कोविड-19 की चुनौतियों का मुकाबला पर ध्यान केंद्रित कर रही है। इसके साथ ही सहयोग का वृहद एजेंडा आगे बढ़ता रहेगा। उल्लेखनीय है कि इजराइली प्रतिनिधिमंडल इजराइली रक्षा मंत्रालय के अधीन रक्षा अनुसंधान एवं विकास महानिदेशालय के नेतृत्व में रविवार को दो उड़ानों से भारत के लिए रवाना हुआ। इजराइली प्रतिनिधिमंडल भारत में उसे द्वारा कोविड-19 की जांच के लिए विकसित तकनीक के प्रभाव का आकलन करने के लिए कई जांच करेगा। इजराइल द्वारा विकसित इस पद्धति से एक मिनट के भीतर संक्रमण का पता लगाया जा सकता है। इजराइली प्रतिनिधिमंडल में करीब 20 विशेषज्ञ शामिल हैं, जिनमें से रक्षा मंत्रालय, विदेश एवं स्वास्थ्य मंत्रालयों से लेकर इजराइली रक्षा बलों एवं विभिन्न उद्योगों से जुड़े विशेषज्ञ हैं। वे इस जांच किट को विकसित करने में शामिल रहे हैं।           


29 को आएगा यूके बोर्ड का रिजल्ट

देहरादून। उत्तराखंड बोर्ड की 10वीं और 12वीं के बोर्ड एग्जाम दे चुके बच्चों का इंतज़ार खत्म होने वाला है। जी हां 29 जुलाई बुधवार को बोर्ड मुख्यालय रामनगर से रिजल्ट अनाउंस कर दिया जाएगा। कोरोना के चलते उत्तराखंड बोर्ड की एग्जाम डेट एक महीना लेट हो चुकी है। हर साल रिजल्ट जून महा में घोषित कर दिया जाता था, जो इस बार कोरोना के चलते तकरीबन 1 महीने पीछे हो गया है। कोरोना वायरस के चलते पहले बोर्ड परीक्षाएं देरी से करवाई गईं, उसके बाद रिजल्ट आने में भी तकरीबन एक महीना हो गया है। इस साल बोर्ड एग्जाम में 2,71,690 स्टूडेंट्स शामिल हुए थे इनमें 12वीं में 1,31, 301 और हाईस्कूल में 1,50,389 बच्चों ने एग्जाम दिया था। उत्तराखंड बोर्ड सचिव नीता तिवारी ने बताया कि बोर्ड रिजल्ट की घोषणा के वक्त इस साल रामनगर में शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे भी मौजूद रहेंगे। उन्हीं की मौजूदगी में बोर्ड रिजल्ट की घोषणा की जाएगी। मंत्री के आदेश के बाद रिजल्ट जल्दी तैयार कर लिया गया है। दरससल शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने मूल्यांकन कार्य तेजी से करने के निर्देश दिए थे जिसके मुताबिक रिजल्ट अब तैयार हो गया है। 29 जुलाई को बोर्ड मुख्यालय से इसे जारी कर दिया जाएगा।           


सुनील पुरी   


विदेशी परिवार से अभद्रता, मामला दर्ज

अनील पूरी

महराजगंज। जनपद के पुरंदरपुर थाना क्षेत्र के कोल्हुआ उर्फ सिंहोरवा के शिव मंदिर परिसर में ठहरे फ्रांसीसी परिवार के साथ बीती रात शराब के नशे में धुत युवक ने फ्रांसीसी परिवार के साथ किया अभद्रता सुचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर शांतिभंग में चालान कर दिया। फ्रांस के टूलोज शहर निवासी पैट्रीस परिवार संग बीते 22 मार्च को नेपाल जाने के लिए सोनौली सीमा पर पहुंचे थे लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण भारत-नेपाल सीमा सील होने के कारण कोल्हुआ के शिव मंदिर परिसर में रुक गए। मंदिर परिसर में ही वह पत्नी वर्जिनी बेटा टॉम बेटी लोला व ओफली के साथ रह रहे हैं। हालांकि प्रशासन ने उन्हें नगर के किसी सुरक्षित स्थान पर रुकने को कहा लेकिन वे स्वेच्छा से मंदिर परिसर में रह रहे हैं। देर रात पुरंदरपुर के तिनकोनिया निवासी रामनरेश शराब के नशे में मंदिर पहुंचा और फ्रांसीसी परिवार से अभद्रता करने लगा। ग्रामीणों ने बीच-बचाव कर युवक को हटाया और पुलिस को सूचना दी।पुरंदरपुर थानाध्यक्ष शाह मुहम्मद ने बताया कि नशे में धुत्त रहा आरोपी रामनरेश को गिरफ्तार कर 151 में चालान किया गया है।           

दहेज के लिए महिला की जहर देकर हत्या

दहेज को लेकर विवाहिता की जहर देकर की गई हत्या के मामले में पुलिस ने 3 आरोपियों को भेजा जेल।
आठ माह पहले हुई घटना के बाद अब आयी विसरा रिपोर्ट


पूरनपुर। दहेज की मांग पूरी न होने पर जहर देकर की गई विवाहिता की हत्या करने के मामले में पुलिस उप निरी0 श्री गौतम सिंह ,मय हमराह कॉन्स0 सोनू कुमार, व् कॉन्स 0 जयवीर सिंह ,व् कॉन्स0धीरज मलिक ,व् म0कॉन्स0 संगीता , व् म0कॉन्स0 गीता ,ने वांछित अभियुक्त हरप्रीत सिंह पुत्र तरसेम सिंह अभियुक्त तरसेम सिंह पुत्र दर्शन सिंह व अभियुक्त गुरमीत कौर पत्नी तरसेम सिंह निवासीगण पूरनपुर कुरैया थाना पुरनपुर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।
कोतवाली छेत्र के गांव कुररिया निवासी हरप्रीत सिंह की पत्नी किरनदीप कौर की दहेज को लेकर 16 नवंबर 2019 को जहर देकर हत्या कर दी गयी थी। सूचना पर पहुची पुलिस ने विवाहिता का शव कब्जे में लेकर पीएम को भेजा था ।जिसमे उसकी हत्या का खुलासा होने पर उसका विसरा सुरक्षित कर लिया गया था। पुलिस ने मृतक विवाहिता की माता सुखविंदर कौर की तरफ से पति हरप्रीत सिंह ,ससुर तरसेम सिंह ,सास गुरुप्रीत कौर ,देवर हरविंदर सिंह ,व ननद के खिलाफ दहेजप्रथा व हत्या का मुकदमा दर्ज किया था । पुलिस ने हरप्रीत सिंह , तरसेम सिंह, और गुरमीत कौर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। यह आठ माह पहले घटना घटी थी ।



           



 



इंसाफ के लिए दर-दर भटकते 5 मासूम

कानपुर। जब 5 मासूम बच्चे अपनी मां की मौत का इंसाफ मांगने अपनी 80 वर्षीय बूढ़ी नानी रामवती और चाचा साहूकार (63) के साथ घाटमपुर कोतवाली आए और थानाध्यक्ष सच्चिदानंद त्रिपाठी से मिलकर न्याय की गुहार लगाई । इस दौरान जिसने भी मासूम बच्चों को देखा तो भावुक हो गया परंतु कोतवाली से उनको न्याय नहीं मिला और थानाध्यक्ष की मौजूदगी में कोतवाली से मासूम बच्चों व बूढ़ी नानी को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया।
जी हां हम बात कर रहे हैं। घाटमपुर तहसील के गांव रहटी खालसा बंजारन डेरा जोकि घाटमपुर कोतवाली क्षेत्र में आता है, बताते चलें कि 17 जून को सुबह करीब 7 बजे गांव के ही मैनेजर पुत्र रमेश, बाबू पुत्र जयसिंह, ऊषा पत्नी बाबू, बेटू पुत्री बाबू ने पुरानी रंजिश मानते हुए मामूली बात को लेकर पड़ोस की ही कमला देवी को गाली गलौज करते हुए लात घूसों से पीटना शुरू कर दिया था शोर शराबा सुनकर बचाने दौड़ी कमला की बूढ़ी मां रामवती को उक्त लोगों ने धक्का दे दिया और जबरदस्ती कमला को घसीटते हुए पास की ही छोटी और सकरी गली में ले गए जहां पर जहर देकर कमला को पिला दिया । रामवती के शोर मचाने पर साहूकार व गांव के अन्य लोग बचाने दौड़े तो उपरोक्त लोग धमकी देते हुए गांव के फरार हो गए। साहूकार ने आनन फानन में डायल 112 व एम्बुलेंस को सूचना दी। मौके पर पहुंचे डायल 112 द्वारा कमला को एम्बुलेंस से हॉस्पिटल घाटमपुर लाए जहाँ से हैलट रिफर कर दिया गया। हैलट अस्पताल जाते समय रास्ते पर ही कमला की मौत हो गई। बताते चलें कि कमला के पति गोरे की 2017 में गम्भीर बीमारी के कारण मृत्यु हो चुकी थी कमला के 5 बच्चे अवनीश 11 खुशबू 9 रेनू 7 गुलशन 5 रामू 3 है पिता की मृत्यु के बाद पांचों बच्चों का कमला किसी तरीके से भरण पोषण कर रही थी परंतु कमला की मौत के बाद पांचों बच्चे अपनी बाल्यावस्था में ही अनाथ हो गए पांचों बच्चे अपने बुजुर्ग चाचा और बूढ़ी नानी के साथ कोतवाली घाटमपुर सीओ ऑफिस के लगातार 1 महीना 9 दिन से चक्कर काट रहे हैं परंतु इंसाफ की चौखट पर मासूम बच्चों को इंसाफ नहीं मिला है हर बार उनको किसी न किसी बहाने से टरका दिया जाता है उक्त गांव के दबंग लोगों ने बच्चों व उनकी बूढ़ी नानी और बूढ़े चाचा का जीना दुश्वार कर दिया है चाचा साहूकार ने बताया कि पुलिस द्वारा कार्यवाही ना होने के कारण उक्त लोगों के हौसले काफी बुलंद है और शराब पीकर आए दिन जान से मारने की धमकी देते हुए गांव से बाहर निकल जाने के लिए कहते हैं।             


भारत ने चीन के 47 ऐप और बैन किये

नई दिल्ली। चीन से जुड़ी कंपनियों पर भारत सरकार ने फिर एक बार बड़ी कार्रवाई की है। भारत सरकार ने चीन के 47 और ऐप बैन कर दिए हैं। इससे पहले चीन के 59 ऐप बैन किए जा चुके हैं। अब बैन किए गए ऐप्स में ज्यादातर क्लोनिंग वाले ऐप्स शामिल हैं। मतलब पहले से बैन ऐप के जैसे ऐप बनाकर उतार दिए गए थे। इन ऐप्स पर यूजर्स की डेटा का आरोप लगा है।



भारत ने चीनी ऐप्स के खिलाफ कार्रवाई गलवान घाटी में झड़प के बाद शुरू की थी। PUBG समेत चीन के 275 ऐप की बनी लिस्ट टिक-टॉक समेत 59 ऐप भारत सरकार पहले ही बैन कर चुकी है। अब सरकार की नजर 275 चीनी ऐप्स पर है। इसमें PUBG भी शामिल है। गृह मंत्रालय ने अभी तक इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है। हालांकि, मामले से जुड़े एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि चीन के ऐप्स का लगातार रिव्यू जारी है और ये भी पता लगाने की कोशिश है कि उन्हें फंडिंग कहां से हो रही है। अधिकारी के अनुसार कुछ ऐप्स से राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा पाया गया है तो कुछ ऐप डेटा शेयरिंग और निजता के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। टिक-टॉक समेत 59 ऐप भारत सरकार पहले ही बैन कर चुकी है। अब सरकार की नजर 275 चीनी ऐप्स पर है। इसमें PUBG भी शामिल है। गृह मंत्रालय ने अभी तक इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है। हालांकि, मामले से जुड़े एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि चीन के ऐप्स का लगातार रिव्यू जारी है और ये भी पता लगाने की कोशिश है कि उन्हें फंडिंग कहां से हो रही है। अधिकारी के अनुसार कुछ ऐप्स से राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा पाया गया है तो कुछ ऐप डेटा शेयरिंग और निजता के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं।                



सीआरपीएफ के स्थापना दिवस की बधाईंं

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ( सीआरपीएफ) के 82 वें स्थापना दिवस पर बल के कर्मियों को शुभकामनाएं देते हुए वर्षों में नयी ऊंचाइयों को छूने की कामना की है। मोदी ने अपने शुभकामना संदेश में कहा, “इस असाधारण बल के कर्मियों को 82 वें स्थापना दिवस की बधाई। हमारे देश को सुरक्षित रखने में बल अग्रिम मोर्चे पर डटा रहता है। बल के साहस और पेशेवराना की सर्वत्र प्रशंसा होती है। आने वाले वर्षों में बल और नयी बुलंदियों पर पहुंचे।”


शाह ने कहा, “ सीआरपीएफ पराक्रम, साहस और बलिदान का प्रतीक है। बल ने एक बार देश को फिर गौरवान्वित किया है। वैश्विक महामारी कोविड-19 में बल की समर्पण भाव से इसकी सेवा का कोई सानी नहीं है। मैं लाखों भारतीयों के साथ मिलकर 82 वें स्थापना दिवस पर बल के बहादुर कर्मियों और इनके परिवारों को शुभकामनाएं देता हूं।”बल की स्थापना 27 जुलाई 1939 को नीमच में हुई थी। उस समय बल का नाम क्राउन रिप्रेजेंटेटिव पुलिस (सीआरपी) था। देश के आजाद होने के बाद पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने नाम सीआरपीएफ किया था।             


11 जिलों की 13 लाख आबादी प्रभावित

पटना। बिहार में बाढ़ का पानी अब 11 जिलों में फैल गया है, जिससे राज्य की करीब 15 लाख की आबादी प्रभावित हुई है। इस बीच, राज्य सरकार द्वारा राहत और बचाव कार्य प्रारंभ किए गए हैं, लेकिन यह अब तक नाकाफी साबित हो रही है। अभी भी राज्य की प्रमुख नदियों में उफान जारी है तथा करीब सभी प्रमुख नदियां कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। जल संसाधन विभाग के रिपोर्ट में कहा गया है कि कोसी का जलस्तर वीरपुर बैराज के पास सोमवार को सुबह छह बजे 1.55 लाख क्यूसेक था, जो आठ बजे बढ़कर 1.62 लाख क्यूसेक बना हुआ है। इधर गंडक नदी के जलस्तर में भी एक बार फिर बढ़ोतरी हो रही है। गंडक का जलस्राव बाल्मीकिनगर बराज पर सुबह छह बजे 1.89 लाख क्यूसेक था जो आठ बजे 2.09 लाख क्यूसेक पहुंच गया है। इधर, राज्य की करीब सभी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। गंगा, बागमती, बूढ़ी गंडक, कमला बलान, महानंदा, घाघरा कई क्षेत्रों में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।


आपदा प्रबंधन विभाग के अपर सचिव रामचंद्र डू ने बताया कि बिहार की विभिन्न नदियों के बढ़े जलस्तर को देखते हुए आपदा प्रबंधन विभाग पूरी तरह से सतर्क है। नदियों के बढ़े जलस्तर से बिहार के 11 जिलों के कुल 86 प्रखंडों की 625 पंचायतें बाढ से प्रभावित हुई हैं। इन क्षेत्रों में करीब 15 लाख की आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि इन इलाकों में 26 राहत शिविर खोले गए हैं, जहां 14,011 लोग रह रहे हैं। इसके अलावे बाढ प्रभावित इलाकों में कुल 463 सामुदायिक रसोई घर चलाए जा रहे हैं, जिसमें प्रतिदिन 1,77,065 लोग भोजन कर रहे हैं।


उन्होंने बताया कि सभी बाढ़ प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें राहत एवं बचाव का कार्य कर रही हैं। उन्होंने कहा कि अब तक प्रभावित इलाकों से एनडीआरएफ , एसडीआरएफ और बोट्स के माध्यम से 1,36,464 लोगों को बाढ़ प्रभावित इलाकों से बाहर निकाला गया है। उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए हेलीकप्टर के माध्यम से फूड पैकेट्स गिराये जा रहे हैं। इधर, गांवों में बाढ़ का पानी घुसने के बाद लोग ऊंचे स्थानों की खोज में राष्ट्रीय राजमागरें और तटबंधों पर शरण ले रहे हैं। लोगों की शिकायत है कि कहीं भी सरकारी सुविधा उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। गोपालगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर की स्थिति अब काफी खराब हो चुकी है। गोपालगंज और मुजफ रपुर में सड़कों पर बाढ़ पीड़ित रात-दिन काट रहे हैं।            


पुंछ में पाकिस्तान ने संघर्षविराम तोड़ा

पुंछ। पाकिस्तानी सैनिकों ने संघर्षविराम का फिर उल्लंघन करते हुए सोमवार को जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी की। रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि सुबह करीब 10.20 बजे सीमा पार से पाकिस्तानी सैनिकों ने मनकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर अकारण गोलीबारी की और मोर्टार से गोले दागे। भारतीय सैनिकों ने भी इस कृत्य का माकूल जवाब दिया। कल रविवार को भी पुंछ जिले में पाकिस्तानी सैनिकों ने गोलीबारी की थी।           


बिना मास्क पहने दो बकरियां गिरफ्तार

कानपुर। उत्तर प्रदेश में एक अजीब मामला देखने को मिला। कानपुर पुलिस ने बेकनगंज क्षेत्र में घूम रही बकरी को ‘गिरफ्तार’ कर लिया, क्योंकि बकरी ने मास्क नहीं पहना था। यह घटना सप्ताहांत में हुई, जहां बेकनगंज पुलिस ने बकरी को उठाया और जीप में थाने ले गई। जब बकरी के मालिक को पता चला तो, वह पुलिस स्टेशन पहुचा। बकरी मालिक ने पुलिस से गुहार लगाई और पुलिस ने आखिरकार बकरी को रिहा कर दिया यह कहते हुए कि वह जानवर को सड़क पर न घूमने दे। पुलिस अधिकारी अनवरगंज पुलिस स्टेशन सैफुद्दीन बेग ने कहा कि पुलिस ने एक युवक को बिना मास्क के पाया और बकरी को साथ ले आए।


उन्होंने कहा, “जब बिना मास्क के युवक ने पुलिस को देखा तो, वह बकरी छोड़कर भाग गया। पुलिसवालों ने बकरी को पुलिस स्टेशन ले आए। बाद में, हमने बकरी को उसके मालिक को सौंप दिया।” बकरी लाने वाले पुलिसकर्मियों में से एक ने स्वीकार किया कि उन्होंने लॉकडाउन के उल्लंघन में बकरी को गिरफ्तार किया। क्योंकि उसने मास्क नहीं पहन रखा था।उन्होंने कहा, “लोग अब अपने कुत्तों को मास्क पहनाने लगे हैं तो बकरी को क्यों नहीं।” हालांकि, सोशल मीडिया पर चुटकुले बनने के बाद पुलिस ने अपना बयान बदल दिया।           


708 लोगों की मौत, 49,931 संक्रमित

नई दिल्ली। देश में कोरोना की महामारी का प्रकोप लगातार चरम पर है और पिछले 24 घंटों में करीब 50 हजार लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि के बाद संक्रमण का आंकड़ा 14.35 लाख हो गया हालांकि राहत की बात यह रही कि इस दौरान लगभग 32 हजार मरीजों के स्वस्थ होने से इस रोग से मुक्ति पाने वालों की संख्या 9.17 लाख हो गयी। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 49,931 मामले सामने आने से संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 14,35,453 हो गया जबकि 708 लोगों की इस बीमारी से मौत होने से मृतकों की संख्या 32,771 हो गयी।


इसी अवधि में 31,991 मरीज स्वस्थ हुए हैं जिसे मिलाकर अब तक 9,17,568 लोग कोरोना से मुक्ति पा चुके हैं। देश में अभी कोरोना संक्रमण के 4,85,114 सक्रिय मामले हैं। देश में कोरोना की महामारी से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र में संंक्रमण के 9,131 नये मामले सामने आये तथा 267 लोगों की मौत हुई जिससे यहां अब संक्रमितों का आंकड़ा 3,75,799 और मृतकों की संख्या 13,656 हो गयी है जबकि 2,13,238 लोग संक्रमण मुक्त हुए हैं। संक्रमण के मामले में दूसरे स्थान पर स्थित तमिलनाडु में इस दौरान 6,986 नये मामले सामने आये और 85 लोगों की मौत हुई जिससे संक्रमितों की संख्या 2,13,723 और मृतकों का आंकड़ा 3,494 हो गया है। राज्य में 1,56,526 लोगों को अस्पतालों से छुट्टी दी जा चुकी है।           


राष्ट्र विरोधियों का विरोध 'देशभक्ति' हैं

नई दिल्ली। कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को लद्दाख में चीनी घुसपैठ को लेकर मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि “सच्चाई को छुपाना” और चीन को भारतीय भूमि पर कब्जा करने की अनुमति देना “राष्ट्रविरोधी” है जबकि लोगों का ध्यान इस ओर खींचना “देशभक्ति” है।गांधी ने श्रृंखला में अपना चौथा वीडियो संलग्न करते हुए एक ट्वीट में कहा, “चीनी लोगों ने भारतीय भूमि पर कब्जा कर लिया है। इस सच्चाई को छिपाना और उन्हें इसे लेने की अनुमति देना देशद्रोह है। जबकि लोगों का ध्यान इस ओर आकर्षित कराना देशभक्ति है।”


‘चीन पर कठिन सवाल’ शीर्षक वाले वीडियो में केरल के वायनाड से कांग्रेस सांसद ने कहा, “एक भारतीय के रूप में, मेरी पहली प्राथमिकता देश और उसके लोग हैं।” सरकार पर हमला करते हुए गांधी ने कहा, “आप ऐसे लोगों पर कैसी प्रतिक्रिया देते हैं जो चीन पर प्रधानमंत्री से आपके सवाल कहते हैं?” कांग्रेस नेता ने कहा, “अब, यह बहुत स्पष्ट है कि चीनी हमारे क्षेत्र में प्रवेश कर चुके हैं। यह चीज मुझे परेशान करती है। यह मेरे खून को उबालता है कि कुछ अन्य देश हमारे क्षेत्र में कैसे आ सकते हैं?” उन्होंने कहा, “अब यदि आप एक राजनेता के रूप में चाहते हैं कि मैं चुप रहूं और अपने लोगों से झूठ बोलूं, जबकि मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं क्योंकि मैंने सैटेलाइन तस्वीरें देखी हैं।”


राहुल ने आगे कहा, “मैंने सेना के पूर्व अधिकारियों से बात की है। यदि आप चाहते हैं कि मैं झूठ बोलूं कि चीनियों ने इस देश में प्रवेश नहीं किया है तो मैं झूठ नहीं बोलूंगा। मैं ऐसा नहीं करूंगा। मुझे परवाह नहीं है कि इससे मेरा पूरा करियर नरक में चला जाए पर मैं झूठ नहीं बोलूंगा। मुझे लगता है कि जो लोग हमारे देश में चीनियों के घुसने के बारे में झूठ बोल रहे हैं, वे लोग राष्ट्रवादी नहीं हैं।” उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि जो लोग झूठ बोल रहे हैं और कह रहे हैं कि चीनी, भारत में नहीं हैं, वे देशभक्त नहीं हैं। इसलिए मुझे परवाह नहीं है इसकी कीमत मुझे राजनेता के तौर पर चुकानी पड़े।” बता दें कि सर्वदलीय बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा था कि चीन ने भारत की भूमि में प्रवेश नहीं किया है। इसके बाद 17 जुलाई को, गांधी ने अपना पहला वीडियो जारी किया था और सरकार की विदेश नीति पर सवाल उठाया।           


सतह से 200 फुट नीचे की होगी जांच

अयोध्या। रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की तिथि पांच अगस्त तय की गयी है। राममंदिर बनाने में बहुत सारी ऐसी चीजों का प्रयोग होगा, जिससे मंदिर के इतिहास विकास को पता करने में सहजता हो। इसलिए इस बार अब जो मंदिर निर्माण होगा उसमें एक टाइम कैप्सूल बनाकर 200 फिट नीचे डाला जाएगा। इससे भविष्य में राम मंदिर के संघर्ष के इतिहस के बारे में पता करने में आसानी हो सकेगी। रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने बताया कि मंदिर निर्माण के लिए 200 फिट अंदर एक टाइम कैप्सूल डाला जाएगा, जिससे भविष्य में मंदिर के इतिहास और संस्कृतिक का पता किया जा सके। चौपाल ने कहा, ” भविष्य की जानकारी आवश्यक है। इसलिए यह डाला जाएगा। आज खुदाई से जो अवशेष प्रदान हुए हैं वे बड़ा साक्ष्य हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए भविष्य के इतिहास की कई चीजें इसमें डाली जाएंगी। इसे विद्वान लोग तय करेंगे। इससे मंदिर के इतिहास का अध्ययन बड़ी आसानी से हो जाएगा। जिससे आने वाले समय में कोई विवाद न उत्पन्न हो। इतिहास सिद्ध करने के लिए बहुत लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी है।”


उन्होंने कहा, “इस कैप्सूल के बारे में विद्वान लोग बैठकर तय करेंगे। भविष्य को ध्यान में रखते हुए कई तथ्य डाले जाएंगे। जैसे खुदाई के समय निकले अवशेष बड़ा साक्ष्य बनता है। इसी प्रकार की कई चीजें इसके अंदर डाली जाएंगी। जिससे मंदिर के इतिहास के तथ्य लोगों को पता चल सके।”


उधर, ट्रस्ट पांच अगस्त को राममंदिर निर्माण के लिए होंने वाले भूमि पूजन की व्यापक तैयारी कर रहा है। अभी आमंत्रण पत्र की सूची तैयार की जा रही है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कैसे कार्यक्रम किया जाए। इस पर भी गहन मंथन चल रहा है। घर-घर दीपक, मंदिरों भजन आदि की तैयारियां जोरों पर है।           


विधानसभा सत्र का नहीं होगा आयोजन

जयपुर। राजस्थान में राज्यपाल और अशोक गहलोत सरकार के बीच विरोध अभी भी जारी है। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि राज्य सरकार द्वारा भेजे गए विशेष विधानसभा सत्र की अनुमति वाली फाइल को राज्यपाल कलराज मिश्र ने सोमवार को वापस कर दिया है। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने दूसरी बार कोविड-19 विषय पर चर्चा के लिए विशेष विधानसभा सत्र बुलाए जाने के प्रस्ताव पर अनुमति प्राप्त करने के लिए राज्यपाल को फाइल भेजी थी। अधिकारियों ने पुष्टि की कि राजभवन कार्यालय ने राजस्थान सरकार के संसदीय कार्य विभाग को वापस भेजी गई फाइल में सरकार से अधिक जानकारी मांगी है। वहीं फिलहाल विधानसभा सत्र बुलाने के बारे में अभी तक कुछ भी तय नहीं हुआ है। ऐसे में राज्य सरकार को राजभवन द्वारा मांगी गई जानकारी उपलब्ध करानी होगी और उसके बाद ही विधानसभा सत्र बुलाने की प्रक्रिया शुरू हो सकती है।


इसी बीच राजस्थान कांग्रेस ने राज्य में ‘लोकतंत्र बचाओ-संविधान बचाओ’ अभियान के तहत विरोध प्रदर्शन की रणनीति में आखिरी मिनट में बदलाव किया है। अब राजस्थान कांग्रेस ने घोषणा की है कि पार्टी राज्य में सोमवार को प्रस्तावित योजना के तहत राजभवन के बाहर विरोध नहीं करेगी, हालांकि उनके राष्ट्रव्यापी विरोध में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इससे पहले भी राजस्थान में कांग्रेस सरकार ने राज्यपाल से विशेष विधानसभा सत्र की अनुमति देने का अनुरोध किया था, हालांकि राज्यपाल ने अनुमति नहीं दी। राज्य की कांग्रेस सरकार ने शनिवार देर रात को राज्यपाल को एक संशोधित नोट भेजा था। इसमें कोरोनोवायरस की स्थिति पर चर्चा करने के लिए 31 जुलाई को एक विशेष विधानसभा सत्र बुलाने की अनुमति मांगी गई थी, न की फ्लोर टेस्ट के लिए।



  • इस बीच, राज्यपाल कलराज मिश्र ने रविवार को मुख्य सचिव राजीव स्वरूप और डीजीपी भूपेंद्र सिंह से मुलाकात की थी। यह मुलाकात सोमवार को राज्यपाल के आवास पर प्रस्तावित विरोध प्रदर्शन को लेकर की गई थी, जिसमें दोनों अधिकारियों ने विरोध के मद्देनजर प्रशासन द्वारा उठाए जा रहे सुरक्षा उपायों से उन्हें अवगत कराया। उन्होंने कोविड-19 मामलों में वृद्धि पर भी अपनी चिंता जताई और अधिकारियों से कोविड-19 से निपटने के लिए एक नई रणनीति तैयार करने का आग्रह किया। यह जानकारी रविवार को राजभवन द्वारा जारी एक प्रेस नोट में दी गई।           


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)


 जुलाई 28, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-348 (साल-01)
2. मंगलवार, जुलाई-28, 2020
3. शक-1943, श्रावण,शुक्ल-पक्ष, तिथि- नवमी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:25,सूर्यास्त 07:20।


5. न्‍यूनतम तापमान 25+ डी.सै.,अधिकतम-39+ डी.सै.। भारी बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                    


जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से घबराया 'चीन'

बीजिंग। जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से चीन घबरा गया है। यही वजह है कि जी-7 देशों की बैठक के तुरंत बाद चीन ने जिनपिंग के ड्रीम प्रोजे...