गुरुवार, 20 मई 2021

गाजियाबाद: 24 घंटे में 364 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव

अश्वनी उपाध्याय               

गाज़ियाबाद। पिछले 24 घंटों की अवधि में 364 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। इस अवधि में 608 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया और 2 मरीजों की मौत के बाद सक्रिय संक्रमितों की संख्या 2760 हो गई। मेरठ जिले में 442 नए संक्रमित मिले और 1039 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। इसके फलस्वरूप अब यहाँ 7470 सक्रिय मरीज रह गए हैं। यहाँ 4 मरीजों की मौत भी दर्ज की गई है। गौतम बुद्ध नगर जिले में 239 नए संक्रमित मिले और 436 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। यहाँ 4 मरीजों की मौत के बाद 4964 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया।

दयनीय स्थिति का जिम्मेदार खुद मुस्लिम समाज

सत्येंद्र पंवार               
मेरठ। मुसलमान समाज आज जिस हाशिये पर है, उसकी देन भाजपा नही कांग्रेस है। बहुजन मुक्ति पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी एवं मेरठ मंडल अध्यक्ष आर डी गादरे ने एक साक्षात्कार मे कहा कि मुस्लिम समाज की दयनीय स्थिति के जिम्मेदार खुद मुस्लिम समाज के खुदगर्ज नेताओं की करनी भरनी पढ़ रही है। आज देश में मुस्लिमों के प्रति आज माहौल बनाने और उनको मजलूम पसमांदा बनाने की हरकतें हैं। उसके जिम्मेदार कांग्रेस और मुस्लिम लीडर हैं। ग्रेट इंडिया ग्रेट भारत में कांग्रेस की सरकार में ही मुस्लिम सबसे ज्यादा कमजोर हुआ। कॉंग्रेस चाहती तो देश के आतंकवादी संगठनो पर पाबंदी लगा सकती थी, गुजरात के कातिलों को जेल मे डाल सकती थी। लेकिन नही किया। बल्कि मुस्लिम समाज को लगातार कमजोर करने का कार्य करते रहे और ऊपर से दिखावा मुस्लिमों का हितैषी बनकर दिखावा किया। मुसलमान आज पुलिस, सेना और न्यायालयों मे ना के बराबर बचा है। उसकी देन कॉंग्रेस और रीजनल क्षेत्रीय पार्टियाँ हैं। चाहे वह समाजवादी पार्टी हो बहुजन समाज पार्टी या अन्य कोई। अगर शासन_प्रशासन मे संख्या के हिसाब से सभी धर्म, जाति के लोगो को जगह दी जाती तो आज ये हालात ना होती। आज भी अपनी वफात परस्ती के लिए और अपनी जेब भरने के लिए समाज का कोई ध्यान नहीं रख कर जनता को गुमराह करने का भी कार्य किया जा रहा है क्योंकि उनको पहले से ही उन पार्टियों में हराम की खाने की आदत बन चुकी है और उनको खून मुंह लग गया उनकी आने वाली नस्लें चाहे बर्बाद हो या आबाद हो उनको आज भी कोई फर्क नहीं पड़ रहा जबकि आज देश के हालात दोबारा से गुलामी की ओर बन गए हैं। जनता भूखमरी की कगार पर है। महंगाई चरम सीमा पर है, रोजी-रोटी कारोबार बड़ी दयनीय स्थिति में पहुंच चुके हैं और वर्तमान सरकार बीमारी में भी अपनी जेब भरने पर लगी हुई हैं। सबसे पहले हम भारतीयों को अपने देश का नाम भारत ग्रेट इंडिया जो कानूनी है। वही कहना चाहिए हिंदुस्तान कहना अपराध है। क्योंकि हमारे देश का नाम हिंदुस्तान नहीं इंडिया दैट इज भारत है। यह हमें समझना होगा अदर वाइज ब्राह्मणी षड्यंत्र को हम हिंदुस्तान कहकर उनका साथ देने में कोई कमी नहीं कर रहे हैं।और उनके मंसूबे इसी बात के हैं कि वह भारत देश यानी इंडिया को हिंदुस्तान बनाने पर लगे हैं। जबकि हिंदू कोई जाति या मजहब नहीं है। यदि ग्रंथ पढ़ते हैं या और सत्यार्थ प्रकाश या अन्य के दावे पढ़ते हैं तो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा यह ब्राह्मणी षड्यंत्र है? इससे बचना होगा। बहुजन मुक्ति पार्टी अपनी विचारधारा पर अडिग है और सभी मूल निवासियों के लिए कार्यरत है। अब ऐसा नही है। इसलिये शोषित पीडित लोग मजबूर होकर जन क्रांति के लिए सड़को पर उतरेंगे जो ना गोलियों से डरेंगे ना डंडे से अब एक ये ही रास्ता बचा है? काश कितना अच्छा होता कि देश मे गैर बराबरी का निजाम ना होता।
खुदगर्ज़ नेतार्ओ का भी क्या कहना! विधायक/सांसद बनने के शौक में कभी अपने समाज की आवाज़ ही नही उठाई, देश के चारों स्तंभ और प्रशासन मे सरकारी जगहो पर अपने लोगो को बैठाया ही नही ऐसे नेता सिर्फ मुसलमानो मे ही नही है, बल्कि एससी/एसटी और ओबीसी मे भी भरपूर मात्रा मे हैं।
मै आर डी गादरे बामसेफ की विचार धारा वाली एकमात्र बहुजन मुक्ति पार्टी का कार्यकर्ता खुले आम कहता हूँ। सबको आबादी के हिसाब से आरक्षण लड़ाई लड़ेंगे वो एस सी, एस टी, ओ बी सी, अल्पसंख्यक सबको समानुपाती जिसकी जितनी संख्या भारी उसकी उतनी हिस्सेदारी के हिसाब से मुसलमानो को 22% हिस्सेदारी (आरक्षण) फौरन दिया जाये। मुझे पूरा भरोसा भी है और अगर ऐसा करने मे आनाकानी हुई तो उसी वक्त बहुजन मुक्ति पार्टी का दामन छोड़ दूंगा। अन्य नेताओं की तरह जमीर बेच कर समाज का काम नही करता।

डीएम कमल ने दुकान का किया औचक निरीक्षण

गोपीचंद                  
बागपत। जिलाधिकारी राज कमल यादव ने आज गांव बावली में खाद्य रसद विभाग की सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान का औचक निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने सतवीर सहित जनपद के समस्त कोटेदारो को निर्देश दिए। किसी भी राशन धारक को राशन कम ना दिया जाए। पात्र गृहस्थी कार्ड में 5 किलो यूनिट राशन दिया जाता है। जिसमें ₹3 प्रति किलो से 2 किलो चावल व ₹2 प्रति किलो से 3 किलो गेहूं दिए जाते हैं। उन्होंने कहा इस स्थिति में अगर कोई कोटेदार किसी राशन धारक को राशन कम देता है तो ऐसे कोटेदारों की सूचना तत्काल दी जाए। जिलाधिकारी ने कहा सरकार की मंशा के अनुरूप पात्र व्यक्ति को राशन दिया जाए जनपद का कोई भी व्यक्ति भूखा ना सोए प्रदेश सरकार प्रत्येक नागरिक के स्वास्थ्य सुरक्षा खान पीन के लिए पूर्ण रूप से कटिबद्ध है। अगर इसमें कोई कोटेदार किसी तरह की कोई भी गड़बड़ी करता है तो कोटेदार की जिम्मेदारी तय करते हुए उस पर प्रभावी कार्यवाही की जाएगी।जिलाधिकारी ने ग्राम वासियों से भी कोटेदार के बारे में फीडबैक लिया और उन्होंने निगरानी समितियों के बारे में भी जानकारी ली ग्राम वासियों ने कहा निगरानी समिति गांव में एक्टिव हैं और संक्रमित व्यक्तियों के घर तक मेडिसिन कीट उपलब्ध कराई जा रही है। जिलाधिकारी ने कहा अगर किसी को किसी तरह की कोई समस्या आती है तो कोविड- कंट्रोल रूम 0 121-2220027 पर कॉल करें।
जिलाधिकारी में कोटेदार को निर्देश दिए कि राशन वितरण करते समय सैनिटाइजेशन अवश्य कराएं और टेबल पर सैनिटाइजर रखा होना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति मास्क लगा कर आए और मास्क लगाए जाने के लिए भी लोगों को प्रेरित किया जाए।

वेतन आयोग के तहत रुके हुए महंगाई भत्ते पर रोक

राणा ओबराय               
नई दिल्ली। केंद्रीय कर्मचारियों के सातवें वेतन आयोग के तहत रुके हुए महंगाई भत्ते पर जनवरी से रोक लगी हुई है। हालांकि कर्मचारियों को इसके लिए अब और ज्यादा इंतजार नहीं करना होगा। केंद्र सरकार डीए में बढ़ोतरी का ऐलान जून में कर सकती है। काउंसिल-जीसीएम-स्टाफ साइड ने इस बारे में जानकारी दी है। डीए में इजाफे के बाद कर्मचारियों की सैलरी कम से कम 4 फीसदी बढ़ जाएगी। जून में होगा डीए में इजाफा जेसीएम-स्टाफ साइड सेक्रेटरी शिवा गोपाल मिश्रा ने कहा कि केंद्र सरकार डीए में बढ़ोतरी का ऐलान जून में कर सकती है। इससे बेसिक सैलरी में कम से कम 4 परसेंट का इजाफा होगा। कर्मचारियों के डीएए इजाफे को लेकर नेशनल काउंसिल लगातार वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग और डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग (डीओपीटी) के अधिकारियों से बातचीत कर रहा है।विभाग के मुताबिक, देशभर में फैली कोरोना की दूसरी लहर की वजह से डीए के इजाफे में देरी हो रही है। पहले महंगाई भत्ते में इजाउा अप्रैल तक होना था, लेकिन कोरोना संकट के चलते यह अब जून तक हो सकता है।काम के हिसाब से क्या सही सैलरी मिलती है आपको? – अंडर पेमेंट का मसला। शिवा गोपाल मिश्रा का कहना है कि इससे केंद्रीय कर्मचारियों के 7th सीपीसी पे मैट्रिक्स पर कोई असर नहीं पड़ेगा। क्योंकि केंद्र सरकार ने कर्मचारियों और पेंशनर्स का डीए, डीआर जून 2021 तक फ्रीज करके रखा हुआ है। मार्च 2021 में राज्य सभा में वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया था कि डीए, डीआर बढ़ोतरियों को फिर से 1 जुलाई से शुरू कर दिया जाएगा। इसलिए अगर 1 जनवरी 2021 का DA बढ़ोतरी आज ऐलान हो भी जाता है तो ये शुरू 1 जुलाई 2021 से ही होगा। शिवा गोपाल मिश्रा ने कहा कि DA में इजाफे की बात की जाए तो उम्मीद है कि कैलकुलेशन के हिसाब से जुलाई से दिसंबर 2020 के लिए औसत महंगाई करीब 3.5 परसेंट रही है तो इस हिसाब से इसमें करीब 4 फीसदी का इजाफा हो सकता है। अगर पेंडिंग किस्तों की बात की जाए तो शिवा गोपाल मिश्रा ने कहा कि इस बारे में लगातार अधिकारियों से बातचीत हो रही है और जल्द ही इसका समाधान निकाला जाएगा। हमने सरकार को प्रस्ताव दिया है कि वो कर्मचारियों को डीए की बकाया तीन किस्तों को अगर एक साथ देने में समर्थ नहीं हैं तो उसे कई हिस्सों में भी दे सकते हैं।

समाज समिति के सदस्यों ने घटनाक्रम पर चर्चा की

गोपीचंद                     
बागपत। बड़ोत के सकल जैन समाज के द्वारा प्रवीन जैन प्रकरण के संचालन हेतु घोषित की गई 6 सदस्यों की सर्वाधिकार प्राप्त सकल जैन समाज समिति की बैठक। आज दिगंबर जैन बाल सदन के परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए संपन्न हुई। जिसमें समिति के सभी सदस्यों ने हालिया घटनाक्रम पर विस्तारपूर्वक चर्चा की।
बैठक का संचालन ऑल इंडिया श्वेतांबर स्थानकवासी जैन कॉन्फ्रेंस उत्तर प्रदेश शाखा के अध्यक्ष डॉ अमित राय जैन ने किया। बैठक में सर्वसम्मति से तय किया गया कि फिलहाल देश एवं प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और पश्चिम उत्तर प्रदेश के जनपद बागपत क्षेत्र में हमारे सभी जनप्रतिनिधि भाजपा से ही है। जिनमें से बागपत भाजपा जिलाध्यक्ष सूरज पाल गुर्जर, केंद्रीय मंत्री डॉक्टर संजीव बालियान, बड़ौत विधायक केपी मलिक, बड़ोत चेयरमैन डॉक्टर अमित राणा इस प्रकरण की शुरुआत में ही नगर के कपड़ा व्यवसाई प्रवीण जैन पर लगाए गए आरोपों को फर्जी करार दे चुके हैं। इन सभी जनप्रतिनिधि एवं नेताओं ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से व्यापारी प्रवीन जैन पर लगाए गए फर्जी मुकदमे को वापस लेने एवं दोषी अधिकारियों पर कार्यवाही करने का निवेदन किया है।
उसी श्रंखला में सकल जैन समाज समिति द्वारा इन सभी नेताओं का धन्यवाद किया गया एवं सभी की उपस्थिति में इन सभी नेताओं से दूरभाष पर निवेदन किया गया कि प्रशासन से बात कर वह निर्दोष प्रवीण जैन को जेल से रिहा करने में अपनी भूमिका अदा करें।
सकल जैन समाज समिति द्वारा सार्वजनिक बयान जारी करके बागपत जिला प्रशासन से दोबारा अपील की गई कि प्रशासन के प्रतिनिधि द्वारा जैन समाज की बैठक में दिए गए आश्वासन के अनुसार सकारात्मक प्रक्रिया अपनाते हुए फर्जी मुकदमे को समाप्त किए जाने की कार्यवाही प्रारंभ करें। अगर न्यायालय में आगामी जमानत की तारीख तक कोई ठोस सकारात्मक प्रक्रिया प्रशासन नहीं अपनाता है तो जैन समाज को मजबूरन आंदोलन प्रदर्शन एवं जैन समाज की महिलाओं को अनशन का रास्ता अपनाना होगा। जिसकी समस्त जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।
बैठक में यह भी तय किया गया की अगर आंदोलन की घोषणा की जाएगी तो उससे पूर्व जैन समाज सर्व समाज के प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर इसकी रूपरेखा तैयार करेगा। बैठक में दिगंबर जैन कॉलेज के संयुक्त सचिव धनेंद्र जैन, अजीतनाथ दिगंबर जैन मंदिर कमेटी के महामंत्री मुकेश जैन, श्वेतांबर स्थानकवासी जैन सोसायटी शहर के महामंत्री संजय जैन, लघु उद्योग भारती से आनंद जैन उपस्थित रहे।

चिकित्सकों के साथ समीक्षा बैठक आयोजित की

कौशाम्बी। नोडल अधिकारी सुधीर महादेव बोबडे़ सदस्य (न्यायिक) राजस्व परिषद की अध्यक्षता में गुरूवार को जिलाधिकारी कार्यालय कक्ष में जनपद में कोविड-19 के संबंध में संचालित निजी अस्पतालों के चिकित्सकों के साथ समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। बैठक में नोडल अधिकारी ने कोविड-19 के रूप में वैश्विक महामारी की वर्तमान स्थिति एवं सम्भावित तीसरी लहर से निपटने हेतु सभी आवश्यक तैयारियो के संबंध में जनपद में संचालित निजी अस्पतालों के चिकित्सकों के साथ बैठक कर जानकारी प्राप्त की। उन्होने अस्पतालों में सभी आवश्यक तैयारियो को समय से पूर्ण करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 वैश्विक महामारी की तीसरी लहर से निपटने हेतु सभी आवश्यक संसाधनों की पूर्ति समय से करा लें इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरतें। नोडल अधिकारी ने निजी अस्पतालों में बेडों की क्षमता तथा आक्सीजन की उपलब्धता के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। 
इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. पीएन चतुर्वेदी द्वारा बताया गया कि सम्भावित तीसरी लहर से बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की सम्भावना है। जनपद के सरकारी अस्पतालों में कुल तीन पीडियाट्रिशन है।जबकि निजी अस्पतालों ने बताया कि उनके पास एक भी पीडियाट्रिशन नही है। इस प्रकार स्पष्ट है कि किसी विषम परिस्थिति में इस महामारी से निपटने के लिए अत्यधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है। बैठक में उपस्थिति निजी अस्पतालों को सुझाव दिया गया कि वे अपने यहां अभी से सांसद विधायक व सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से पीडियाट्रिक बेडों की व्यवस्था कर लें इसी प्रकार जिला चिकित्सालय में भी पीडियाट्रिक इन्टेन्सिव केयर यूनिट की तैयारी पूर्ण कर ली जाये। साथ ही सिम्टोमैटिक, प्राइमरी, मॉडरेट व सवियर स्टेज के मरीजों के लिए अलग-अलग मेडिकल किट भी तैयार कर ली जाये जिससे सम्भावित तृतीय लहर आने पर त्वरित उपचार सम्भव हो सके। बैठक में निजी अस्पतालों के डॉक्टरों द्वारा बताया गया कि उनके यहां कोविड-19 टेस्ट की अनुमति नहीं इसके लिए समय-समय पर आरआरटी टीम अस्पताल में आकर मरीजों का कोविड टेस्ट करती है और जो मरीज कोविड संक्रमित पाया जाता उसे कोविड प्रोटोकाल के तहत सरकारी अस्पताल अथवा होम अइसोलेशन में भेज दिया जाता है। इस प्रकार यदि निजी अस्पतालों को एन्टीजन टेस्ट की सुविधा प्रदान कर दी जाये तो कोविड मरीज की समय से पहचान होगी। जिससे उसका त्वरित उपचार शुरू हो जायेगा। बैठक में यह भी अवगत कराया गया कि जनपद में लोकल स्तर पर एक भी पैथोलैब नहीं है सभी निजी अस्पातल कलेक्शन एजेन्ट के माध्यम से पैथोलॉजी टेस्ट कराते हैं। यदि इस जनपद में किसी निजी अस्पताल में अथवा व्यक्तिगत स्तर पर पैथलैब बनाया जाता है तो इसके लाभदायक सकारात्मक परिणाम होंगे। 
इसी प्रकार जनपद में एक भी आक्सीजन गैस प्लॉन्ट अथवा रिफलिंग प्लॉन्ट नही है। बैठक में जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह ने बताया कि सभी सरकारी एवं निजी अस्पतालो में जनपद के बाहर से आक्सीजन सिलेन्डर की व्यवस्था हो रही है। डॉ. नीतू कनौजिया तेजमती हास्पिटल, मंझनपुर द्वारा बताया गया कि उनके यहां आक्सीजन प्लान्ट लगाने की तैयारी की जा रही है। बैठक में यह भी सुझाव दिये गये कि यदि सामूहिक भागीदारी के आधार पर जनपद में आक्सीजन रिफिलिंग प्लॉन्ट लगाया जाये तो कोविड-19 के दौरान एवं उसके बाद भी इसका व्यावसायिक उपयोग होता रहेगा। इस अवसर पर अतिरिक्त उपजिलाधिकारी विनय कुमार गुप्ता, डिप्टी सीएमओ डॉ. एसके झॉ सहित अन्य अधिकारी गण एवं निजी अस्पतालों के चिकित्सकगण उपस्थित रहे।
सुशील केसरवानी 

हापुड़: डीएम ने गेहूं क्रय केंद्र का निरीक्षण किया

अतुल त्यागी                  
हापुड़। जिलाधिकारी अनुज सिंह के द्वारा ग्राम उपेड़ा के गेहूं क्रय केंद्र का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान गेहूं क्रय केंद्र पर लगभग 1600 बोरिया बहार खुले में बारिश से भीगती हुई नजर आई। जिसे देखकर जिलाधिकारी ने विपणन अधिकारी गरिमा दुबे पर कड़ी नाराजगी जताते हुए कहा कि क्यों ना वर्षा से खराब हुए राशन की आपकी सैलरी से कटौती करके भरपाई की जाए। उन्होंने कहा कि जो भी नुकसान हुआ है। उसकी भरपाई आपकी तनख्वाह से कटौती करके क्यों ना की जाए। गेहूं क्रय केंद्र पर वितरण अधिकारी गरिमा दुबे उपस्थित मिली। जिलाधिकारी ने जो बोरिया वर्षा ऋतु में भीगने से बच गई है। उनको तत्काल सुरक्षित स्थान पर रखने हेतु विपणन अधिकारी को निर्देश दिए।जिलाधिकारी ने जिला विपरण अधिकारी को निर्देशित किया, कि लापरवाह वितरण अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी करें।

दिल्ली में संक्रमण से मौतों की संख्या 22,579 हुईं

रवि चौहान   
नई दिल्ली। दिल्ली में एक दिन में कोविड-19 के 3,231 नए मामले सामने आए हैं। वहीं, संक्रमण से 233 और लोगों की मौत के बाद शहर में इससे जान गंवाने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 22,579 हो गई। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार शहर में नमूनों के संक्रमित मिलने की दर अब 5.5 प्रतिशत है। अद्यतन स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 3,231 नए मामले सामने आए, शहर में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के चार हजार से कम नए मामले सामने आए हैं। चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि वैश्विक महामारी की दूसरी लहर के बीच लगा लॉकडाउन मामलों में कमी का एक बड़ा कारण है। दिल्ली में बुधवार को कोविड-19 के 3,846 नए मामले सामने आए थे और इससे 235 और लोगों की मौत हुई थी।

केरल: विजयन ने सीएम पद की दूसरी बार शपथ ली

अकांशु उपाध्याय   

तिरुवनंतपुरम। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के दिग्गज नेता पिनाराई विजयन ने गुरुवार को केरल के मुख्यमंत्री पद की लगातार दूसरी बार शपथ ली। उनके साथ 20 मंत्रियों ने भी शपथ ली। विजयन के नेतृत्व में माकपा नीत वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) ने छह अप्रैल को हुए चुनाव में लगातार दूसरी बार जीत हासिल की थी।

राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने एक सादे समारोह में विजयन एवं अन्य मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी। सेंट्रल स्टेडियम में अपराह्न 03:30 बजे महज 500 लोगों की मौजूदगी में यह शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया गया।माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य श्री विजयन ने उत्तर केरल के धर्मादम सीट से 50,123 मतों के अंतर से जीत हासिल की थी। इससे पहले उन्होंने 1970, 1977, 1991 और 1996 में भी विधानसभा के चुनाव में भी जीत हासिल की थी। इस बार 140 सदस्यीय विधानसभा चुनाव में एलडीएफ ने 99 सीटों पर जीत हासिल की जबकि इससे पहले 2016 के चुनाव में पार्टी ने 91 सीटों पर विजय हासिल की थी।

चुनाव परिणाम ने विजयन के लगातार दूसरे कार्यकाल का मार्ग प्रशस्त कर दिया। इसके साथ ही चार दशक पुराने उस चुनावी परंपरा बदल गयी जिसमें एलडीएफ और यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के बीच सत्ता का वैकल्पिक हस्तांतरण माना जाता था। मंत्री के रूप में शपथ लेने वालों में के कृष्णनकुट्टी जद (एस), ए के शशिन्द्रन, राकांपा, के राधाकृष्णन माकपा, जे चिंचुरानी भाकपा, रोशी ऑगस्टीन, केसी (एम), पी राजीव माकपा, के राजन, भाकपा, वीना जॉर्ज माकपा, प्रोफेसर आर बिंदू माकपा, एमवी गोविंदन मास्टर माकपा, पीए मोहम्मद रियास माकपा, अहमद देवरकोविल आईएनएल, वी अब्दुरहिमन, नेशनल सेक्युलर कॉन्फ्रेंस, वी शिवनकुट्टी माकपा, एंटनी राजू डेमोक्रेटिक केरल कांग्रेस, जीआर अनिल, भाकपा, केएन बालगोपाल माकपा, साजी चेरियन माकपा, पी प्रसाद, सीपी और वीएन वसावन, माकपा शामिल हैं।

विजयन, एके शशिन्द्रन और के कृष्णाकुट्टी को छोड़ कर मंत्रिमंडल में सभी नये चेहरे हैं। समारोह से पहले, कार्यक्रम स्थल पर 54 गायकों का एक आभासी संगीत कार्यक्रम प्रसारित किया गया। माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी समेत अन्य लोग शपथ ग्रहण समारोह के मौके पर मौजूद थे।

सेंसेक्स लुढका, सर्वाधिक नुकसान में ओएनजीसी

हरिओम उपाध्याय   

मुंबई। कमजोर वैश्विक रुख के बीच बीएसई सेंसेक्स बृहस्पतिवार को 338 अंक लुढ़क गया। सूचकांक में मजबूत हिस्सेदारी रखने वाले एचडीएफसी बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईसीआईसीआई बैंक की अगुवाई में यह गिरावट आयी। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स कारोबार की समाप्ति पर 337.78 अंक यानी 0.68 प्रतिशत की गिरावट के साथ 49,564.86 पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 124.10 अंक यानी 0.83 प्रतिशत लुढ़क कर 14,906.05 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक नुकसान में ओएनजीसी रही। इसमें करीब 3 प्रतिशत की गिरावट आयी। इसके अलावा सन फार्मा, पावरग्रिड, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, भारती एयरटेल और कोटक बैंक के शेयरों में भी गिरावट रही। दूसरी तरफ, महिंद्रा एंड महिंद्रा, इंडसइंड बैंक, टाइटन, एल एंड टी अैर बजाज फिनसर्व समेत अन्य शेयर लाभ में रहे। रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति प्रमुख विनोद मोदी के अनुसार घरेलू शेयर बाजार में लगातार दूसरे दिन सुधार आया। इसका कारण वित्तीय, दैनिक उपभोग का सामान बनाने वाली कंपनियों और धातु कंपनियों के शेयरों पर बिकवाली दबाव रहा।

उन्होंने कहा, ”इसके अलावा वैश्विक स्तर पर कमजोर रुख का भी घरेलू बाजार पर असर पड़ा। फेडरल ओपन मार्केट कमेटी (एफओएमसी) बैठक का ब्योरा आने के बाद निवेशकों के बीच कुछ आशंका बढ़ी है। इससे भी धारणा पर असर पड़ा है।” एशिया के अन्य बाजारों में शंघाई, हांगकांग और सोल में गिरावट रही जबकि जापान में निक्की बढ़त में रहा। यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरूआती कारोबार में तेजी का रुख रहा। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.15 प्रतिशत मजबूत होकर 66.76 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

संक्रमण की जांच मात्र 1 सेकंड में, प्रणाली विकसित

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। वैज्ञानिकों ने एक नई किस्म की सेंसर प्रणाली विकसित की है जिसमें लार के नमूने लेकर नोवेल कोरोना वायरस का पता एक सेकेंड के भीतर ही चल जाएगा। यह प्रक्रिया वर्तमान की जांचों से कहीं अधिक तेजी से परिणाम देती है। इस जांच में, कोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने के लिए बहुत अधिक संख्या में वायरल बायोमार्कर की आवश्यकता पड़ती है। यह पॉलीमेरिज चेन रिएक्शन (पीसीआर) या अन्य प्रक्रियाओं के जरिए किया जा सकता है।इस तेज प्रणाली की जानकारी ‘वैक्यूम साइंस ऐंड टेक्नोलॉजी बी’ नाम की पत्रिका में दी गई है। अभी तक रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलीमेरिज चेन रिएक्शन (आरटी-पीसीआर) को ही कोविड-19 का पता लगाने के लिए सबसे उपयुक्त जांच माना जाता है। लेकिन इसके परिणाम मिलने में कुछ घंटे से लेकर कुछ दिन तक का समय लग जाता है।
फ्लोरिडा विश्वविद्यालय से जुड़े मिंघान शियान कहते हैं, ”इस प्रणाली से जांच में लगने वाला समय कम होगा। इसमें जो बायोसेंसर स्ट्रिप है वह सामान्य तौर पर उपलब्ध ग्लुकोज स्ट्रिप जैसी दिखती हैं।” शोधकर्ताओं का कहना है कि इस प्रक्रिया से जांच का शुल्क भी कम होगा। इस प्रक्रिया का इस्तेमाल न केवल कोविड-19 बल्कि अन्य रोगों का पता लगाने के लिए भी किया जा सकता है।

जहां भी दवा उपलब्ध हो वहीं से लेकर आए: एचसी

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को केंद्र से कहा कि वह उन कदमों की जानकारी दे जो ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा के आयात के लिए उठाए जा रहे हैं। बता दें कि कोविड-19 के ठीक हो रहे कई मरीजों में ब्लैक फंगस का संक्रमण देखने को मिला है और इसके इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा की देश में कमी है।
अदालत ने केंद्र सरकार से कहा कि वह, दवा की मौजूदा उत्पादन क्षमता, इसके उत्पादन के लिए लाइसेंस प्राप्त विनिर्माताओं की विस्तृत जानकारी, इस दवा के उत्पादन की क्षमता में वृद्धि और कब तक बढ़ा हुआ उत्पादन शुरू होगा, यह जानकारी मुहैया कराए। न्यायमूर्ति विपिन सांघी और न्यायमूर्ति जसमीत सिंह ने कहा कि केंद्र को अब एम्फोटेरिसिन बी दवा को, दुनिया में जहां भी उपलब्ध है, वहां से लाने के लिए कदम उठाने चाहिए। अदालत को बताया गया कि इस समय दिल्ली में म्यूकरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) के करीब 200 मामले हैं।

पीएम की वर्चुअल मीटिंग रही सुपरफ्लॉप: ममता

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली/कोलकाता। कोविड-19 के हालात पर मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बैठक को सुपर फ्लॉप बताते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बृहस्पतिवार को कहा कि उन्हें और अन्य कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बोलने नहीं दिया गया जो उनके अपमान के समान है। ममता बनर्जी ने यह दावा भी किया कि केवल भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बैठक में बोलने दिया गया, जबकि दूसरों को कठपुतली बनाकर रख दिया गया। उन्होंने कहा कि यह अनौपचारिक और सुपर फ्लॉप बैठक थी।
ममता बनर्जी ने राज्य सचिवालय नबन्ना में संवाददाताओं से कहा कि हम अपमानित महसूस कर रहे हैं। यह देश के संघीय ढांचे को नुकसान पहुंचाने की कोशिश है। प्रधानमंत्री मोदी में असुरक्षा की भावना इतनी ज्यादा है कि उन्होंने हमारी बात ही नहीं सुनी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने ना तो यह पूछा कि पश्चिम बंगाल कोविड के हालात से किस तरह निपट रहा है और ना ही उन्होंने टीकों तथा ऑक्सीजन के भंडार के बारे में पूछा।

ममता बनर्जी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने ब्लैक फंगस के बारे में एक भी सवाल नहीं पूछा। उन्होंने कहा कि राज्य में ऐसे चार मामले सामने आए हैं। देश में कोविड-19 के मामले कम होने के प्रधानमंत्री के दावे का जिक्र करते हुए बनर्जी ने कहा कि अगर संक्रमण के कुल मामले कम हो रहे हैं, तो कोरोना वायरस संक्रमण से मौत के इतने अधिक मामले क्यों आ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने यह आरोप भी लगाया कि केंद्र सरकार के पास देश में कोविड-19 के हालात से निपटने की कोई उचित योजना नहीं है।

हथियारों के जखीरे के साथ दो आतंकी गिरफ्तार

अकांशु उपाध्याय  
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में पुलिस ने एक आतंकवादी संगठन के दो सक्रिय आतंकवादियों के पास से छह हैंड ग्रेनेड बरामद किये हैं। पुलिस प्रवक्ता ने गुरुवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आतंकवादियों के आवागमन के बारे में खुफिया सूचना मिलने के बाद स्थानीय पुलिस ने शहर में नाकेबंदी की थी। इस बीच दो लोग संदिग्ध स्थिति में वहां पहुंचे और पुलिस को देख कर भागने लगे जिन्हें बाद में पुलिस गिरफ्तार करने में कामयाब रही।
गिरफ्तार लोगों की पहचान जहांगीर अहमद हजाम और उसके भाई अब्दुल हमीद के रूप में की गयी है। दोनों तंगधारा के खबावरपाड़ा के निवासी हैं। दोनों के पास से छह हथगोले बरामद किये गये हैं जो आतंकवादियों तक पहुंचाने थे। पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है और मामले की जांच की जा रही है।

राज्य व केंद्रीय कर्मियों का टीकाकरण, केंद्र से मांग

मीनाक्षी लोधी   

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर राज्य में तैनात सभी राज्य एवं केंद्रीय कर्मियों के टीकाकरण के लिए कोविड-19 टीके की कम से 20 लाख खुराक मुहैया कराने की मांग की है। बनर्जी ने पत्र में यह भी कहा कि वायरस के संपर्क में आने का सबसे अधिक खतरे का सामना कर रहे लोगों जैसे बैंककर्मी, रेलवे एवं हवाई अड्डा कर्मी, रक्षा एवं कोयला क्षेत्र में काम करने वाले को केंद्र की नीति में शामिल करने की गुजाइश नहीं है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ”बंगाल में हमने अग्रिम मोर्चे पर कार्यरत और चुनावी प्रक्रिया में शामिल कर्मियों के बड़े हिस्से के टीकाकरण के लिए कदम उठाया है। हमें अब भी सभी कर्मचारियों के टीकाकरण के लिए 20 लाख खुराक की जरूरत है।” उन्होंने मोदी से अनुरोध किया कि वह बिना देरी ‘प्राथमिकता वाले क्षेत्रों’ में कार्यरत लोगों के टीकाकरण के लिए उचित संख्या में खुराक उपलब्ध कराएं।

खून में ऑक्सीजन की कमी, खान-पान से पूरा करें

कोरोना वायरस से संक्रमित ज्यादातर लोगों में ऑक्सीजन की कमी देखी जा रही है। हालात ज्यादा बदतर न हों, इसके लिए ऐसा तरीका तलाशा जाए, जिससे ब्लड में ऑक्सीजन की कमी को पूरा किया जा सके। विशेषज्ञों के मुताबिक, इन परिस्थितियों में ऑक्सीजन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना बेहतर विकल्प है।

अगर आप अपने खून में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ाने के लिए कोई डाइट प्लान बना रहे हैं, तो ध्यान रखें कि आपके भोजन में 80 प्रतिशत अल्कलाइन से भरपूर खाद्य पदार्थ हों। यह आपके रक्त में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ाने में बहुत मदद करेंगे। विशेषज्ञों की मानें, तो इनसे मिलने वाली ऑक्सीजन प्राप्त करने के बाद आप पहले से कहीं ज्यादा तरोताजा और स्वस्थ महसूस कर सकते हैं। ब्लड में ऑक्सीजन की आपूर्ति को बढ़ाने के लिए आपको अपने आहार में कौन से खाद्य पदार्थ शामिल करने चाहिए, जानने के लिए पढ़ें हमारा ये आर्टिकल।

​अल्कलाइन युक्त आहार

  • रक्तप्रवाह में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाता है।
  • लैक्टिक एसिड के निर्माण को रोकता है।
  • यह आपके शरीर में विभिन्न कार्यों को प्रोत्साहित करने में मदद करता है।
  • शरीर के पीएच लेवल को सामान्य रखने में मदद करता है।
  • यह आपके शरीर के अंगों को ठीक से काम करने में मददगार है।

​खूब खाएं नाशपाती, पाइनएप्पल और किशमिश

इन खाद्य पदार्थों के सेवन से ऑक्सीजन लेवल बढ़ाया जा सकता है। इन सभी खाद्य पदार्थों की पीएच वैल्यू 8.5 है। इसके साथ ही ये विटामिन ए , बी और सी के साथ एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर हैं। इनकी मदद से खून को नियंत्रित कर बदले में ब्लड प्रेशर को कम किया जा सकता है।

​ऑक्सीजन की कमी पूरी करेगा नींबू

नींबू ऑक्सीजन युक्त भोजन में से एक है। आमतौर पर यह अम्लीय होता है, लेकिन इसके सेवन के बाद शरीर में जाकर ये अल्कलाइन में बदल जाते हैं। खांसी, सर्दी, फ्लू , हार्ट बर्न और वायरस से संबंधित बीमारियों में इसका सेवन करने पर बहुत राहत मिलती है। लिवर के लिए ये सबसे अच्छा टॉनिक माना गया है।

​तरबूज का सेवन जरूरी

तरबूज आमतौर पर सभी खाते हैं, लेकिन ज्यादातर लोग नहीं जानते कि इसे खाने से रक्त में ऑक्सीजन की कमी पूरी होती है। यह फल 9 पीएच वैल्यू के साथ सबसे ज्यादा अल्कलाइन है। इसमें मौजद फाइबर और पानी के कारण यह हल्का मूत्रवर्धक के रूप में काम करता है।

इतना ही नहीं, यह लाइकोपीन, बीटा कैरोटीन और विटामिन-सी का भी बेहतरीन स्त्रोत है। कोलन की सफाई के लिए हर व्यक्ति को इसका सेवन करना चाहिए।

​आहार में शामिल करें आम-पपीता

इस ग्रुप के खाद्य पदार्थों की पीएच वैल्यू 8.5 होती है। ये दोनों ही फल किडनी की सफाई करने के लिए कारगर साबित हुए हैं। पपीता कोलन (आंत) को साफ और मल त्याग को नियंत्रित करता है। खासतौर से जब इसे कच्चा खाया जाए, तो यह आंतों से हानिकारक पदार्थों को नष्ट करने का काम करता है।

​फ्रूट जूस और कीवी खाएं

कीवी और फ्रूट जूस का सेवन तो आमतौर पर आप करते ही होंगे, लेकिन ब्लड स्ट्रीम में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाने के लिए इन्हें अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। पबमेड PubMed में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, ये सभी फ्लेवेनॉइड से भरपूर हैं।

इनमें नेचुरल शुगर होती है, जो भोजन के पचने पर अम्लीय यौगिक नहीं बनाती है। इन फलों में ऐसे गुण हैं, जो अल्कलाइन के निर्माण को बढ़ावा देते हुए शरीर को ऊर्जा से भर देते हैं।

​खुबानी का सेवन फायदेमंद

खुबानी में फाइबर भरपूर मात्रा में है, जिसकी पीएच वैल्यू 8 होती है। अच्छी बात ये है कि इसे पचाना आसान है। इनमें ऐसे बहुत से एंजाइम हैं, जिससे शरीर में हार्मोनल संतुलन बना रहता है। यदि आप रक्त में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ाना चाहते हैं कि निश्चित रूप से खुबानी का सेवन आपके लिए फायदेमंद साबित होगा।

​गाजर और खजूर का सेवन करें

ब्लड में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए गाजर, खजूर, किशमिश , जामुन, पके केले, गाजर, लहसुन , अजवाइन खाना चाहिए। दरअसल, इन सभी खाद्य पदार्थों में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, इसलिए ये स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं। इनकी पीएच वैल्यू 8 होती है। बता दें कि खजूर, लहसुन और जामुन इन तीनों में ऐसे गुण हैं, जिससे आप अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल तक कर सकते हैं।

​आहार में शिमला मिर्च करें शामिल

इसकी पीएच वैल्यू 8.5 है। विटामिन ए से भरपूर शिमला मिर्च बीमारियों और तनाव पैदा करने वाले फ्री रेडिकल्स से लड़ने में हमारी मदद करती है। इतना ही नहीं, एंटीबैक्टीरियल गुण होने की वजह से यह एंडोक्राइन सिस्टम के लिए बहुत अच्छी है।

यहां बताए गए ऑक्सीजन युक्त खाद्य पदार्थों को अपने आहार का हिस्सा बनाना चाहिए। ये आपके ब्लड में ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने में मदद करेंगे।

बिहार: ग्राम पंचायतों का कार्यकाल बढ़ाने की मांग

अविनाश श्रीवास्तव   
पटना। बिहार में कोरोना महामारी के बीच पंचायत चुनाव कराना संभव नहीं दिख रहा है। अगले महीने 15 जून को पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल खत्म हो रहा है। ऐसे में नीतीश सरकार 15 जून के बाद पंचायतों के संचालन की जिम्मेदारी अफसरों को देने की तैयारी कर रही है। लेकिन बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इसका विरोध किया है। तेजस्वी ने 15 जून के बाद भी पंचायतों के संचालन की जिम्मेदारी मौजूदा निर्वाचित प्रतिनिधियों को देने की वकालत की है। तेजस्वी ने कहा है कि अगर निर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों की जगह प्रशासनिक अधिकारी पंचायतों का जिम्मा सम्भालेंगे तो भ्रष्टाचार और तानाशाही बढ़ेगी। 
गुरूवार को बिहार के नेता प्रतिवाक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर लिखा कि "सरकार से माँग है कि कोरोना महामारी के आलोक में पंचायत चुनाव स्थगित होने के कारण आगामी चुनाव तक त्रिस्तरीय पंचायती प्रतिनिधियों का वैकल्पिक तौर पर कार्यकाल विस्तारित किया जाए, जिससे की पंचायत स्तर पर कोरोना प्रबंधन के साथ-साथ विकास कार्यों का बेहतर समन्वय के साथ क्रियान्वयन हो सके।" उन्होंने आगे लिखा कि "पंचायत लोकतंत्र की बुनियादी इकाई है। अगर निर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों की जगह प्रशासनिक अधिकारी पंचायतों का जिम्मा सम्भालेंगे तो यह भ्रष्टाचार व तानाशाही बढ़ाएगा। अब गॉंव स्तर पर भी सरकारी अफ़सर फाइल देखने लगेंगे तो गरीब की सुनवाई नहीं होगी। लोकतंत्र के लिए चुने हुए लोग जरुरी हैं। "नीतीश सरकार पर हमला बोलते हुए तेजस्वी ने कहा की "बिहार पहले से ही नीतीश सरकार की तानशाही और लोकतंत्र की हत्या से परेशान है। अब कम से कम पंचायत और वार्ड स्तर पर तो इस अलोकतांत्रिक रवैये, तानाशाही और संगठित भ्रष्टाचार को फैलाने से परहेज़ किजीए।" गौरतलब हो कि मौजूदा जन प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाने को लेकर बिहार के राजनीतिक दलों का अलग-अलग मत है। भाजपा, जेडीयू और हम के बीच भी इस मुद्दे पर आपसी मतभेद है।

भाजपा के मुख्य प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि निर्वाचित प्रतिनिधियों को पूूरा पांच साल काम करने का मौका मिला है। उन्होंने अपना काम पूरा कर लिया होगा। अगर कुछ बच गया है तो उसे सरकार अपने स्तर से पूरा कर लेगी। उधर जदयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने कहा कि हम सबके सामने कोरोना से निबटने की बड़ी चुनौती है। पंचायतों का कार्यकाल 15 जून तक है। समय आने पर राज्य सरकार उचित निर्णय लेगी। जबकि सत्तारूढ़ हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा का रुख थोड़ा अलग है। वह कार्यकाल में विस्तार के पक्ष में है।


पिटाई के बाद मुंडन, काला मुंह कर गांव में घुमाया

अविनाश श्रीवास्तव   
समस्तीपुर। लोगों ने कानून को हाथ में लेकर प्रेमी युगल को सजा दी। ग्रामीणों ने दोनों के पेड़ में बांध दिया फिर शुरू हुआ बेरहम भीड़ इंसाफ। ग्रामीणों ने प्रेमी के चेहरे पर कालिख और चुना लगाने के बाद उसका मुंडन कराया। इस दौरान कई ग्रामीणों ने प्रेमी-युगल की पिटाई भी की।
मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी युवक गांव की एक महिला को लेकर फरार हो गया था जिसकी सूचना पर ग्रामीणों ने उसकी काफी खोजबीन की। तब दोनों को दूसरे गांव से पकड़ा गया। जिसके बाद ग्रामीणों ने उनकी जमकर पिटाई की। दोनों को पेड़ में बांध दिया गया। प्रेमी के चेहरे पर कालिख और चुना लगाया दिया गया। इससे भी नहीं मन भरा तब प्रेमी का सिर मुंडन करा दिया। इस पूरी घटना के दौरान किसी ने वीडियो बना लिया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। घटना के संबंध में पूछे जाने पर बिथान थाने की पुलिस ने अपनी अनभिज्ञता जाहिर की। पुलिस ने कहा कि यदि पीड़ित युवक के द्वारा लिखित शिकायत की जाती है तो मामले की जांच की जाएगी और दोषी लोगों पर कार्रवाई की जाएगी।

खरी-खरी: अब की बार वोट मांगने पर लट मिलेगा

श्री राम मौर्य  

झबरेड़ा। कोरोना की दूसरी लहर का कहर थोड़ा कम हुआ है और जनप्रतिनिधि अपने-अपने क्षेत्र में दौरा करने लगे हैं।हालांकि, कई जगह पर उन्हें गुस्से का सामना भी करना पड़ रहा है। एक ऐसा ही मामला उत्तराखंड के झबरेड़ा में सामने आया। यहां से बीजेपी विधायक देशराज कर्णवाल जैसे ही पीएचसी पहुंचे, उन्हें ग्रामीणों ने घेर लिया और खरी खोटी सुनाने लगे। बताया जा रहा है कि बीजेपी विधायक देशराज कर्णवाल झबरेड़ा गांव स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) का निरीक्षण करने पहुंचे. इस दौरान ग्रामीण इकट्ठा हो गए और गांव की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए विधायक को आने वाले विधानसभा चुनाव में गांव में घुसने नहीं देने तक की बात कहने लगे। इस पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है।

वायरल वीडियो में बीजेपी विधायक देशराज कर्णवाल से एक ग्रामीण कहता है, ‘विधायक जी आपके सिर्फ पद का सम्मान है, जो आज आपको छोड़ रहे हैं, अगर आप इलेक्शन टाइम वोट मांगने आएंगे तो गैलरी में आपके के लिए लठ तैयार है।’ ग्रामीणों ने बीजेपी विधायक को सीधे धमकी देते हुए गांव से चले जाने के लिए कहा। बताया जा रहा है कि बीजेपी विधायक देशराज कर्णवाल करोना महामारी को लेकर लोगों को जागरूक करने के लिए क्षेत्र में घूम रहे थे और लोगों से सावधानी बरतने की अपील कर रहे थे। इसी दौरान उन्हीं की विधानसभा के एक गांव में लोगों ने उन्हें घेर लिया और जमकर विधायक की क्लास लगाई। 

हालांकि, इस दौरान विधायक ने चुप्पी साध ली। लीग्रामीणों का आरोप है कि विधायक बनने के बाद देशराज कर्णवाल ने गांव में कोई भी कार्य नहीं किया, कोरोना काल में भी गांव में स्थित स्वास्थ्य केंद्र पर अब तक कोई व्यवस्था नहीं हो पाई, ना तो यहां पर कोई चिकित्सक और ना यहां पर रात को उपचार के लिए कोई व्यवस्था है, और नालों का निर्माण नहीं होने से सड़कों पर गंदा पानी भरा पड़ा है। ग्रामीणों ने कहा कि विधायक के पास जनता के बीच जाकर उनकी समस्या सुनने और उनका निदान करने का समय नहीं है, इसलिए झबरेड़ा विधानसभा की जनता में विधायक के प्रति भारी रोष पनप रहा है। वहीं, बीजेपी विधायक देशराज कर्णवाल गुस्साए ग्रामीणों को शांत करने का प्रयास करते रहे, लेकिन ग्रामीण उन्हें खरी खोटी सुनाते रहे।


31 मई तक कोरोना संक्रमण खत्म करें: सीएम

विकास चौबे   

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण तेजी से कम हो रहा है। अधिकांश जिलों में साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर 10% से कम रह गई है तथा नए प्रकरण भी लगातार कम होते जा रहे हैं, वहीं बड़ी संख्या में मरीज स्वस्थ हो रहे हैं। अब कोरोना को समाप्त करने के लिए ‘एरिया स्पेसिफिक’ रणनीति बनाई जाए तथा आगामी 31 मई तक प्रदेश में कोरोना संक्रमण को समाप्त करने के पूरे प्रयास किए जाएँ, जिससे जन-जीवन को धीरे-धीरे सामान्य बनाया जा सके।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। वी.सी. में मंत्रीगण, प्रभारी अधिकारीगण तथा सभी संबंधित उपस्थित थे।

5065 नए प्रकरण

प्रदेश में कोरोना के 5065 नए प्रकरण आए हैं, पिछले 24 घंटों में 10337 मरीज स्वस्थ हुए हैं तथा एक्टिव प्रकरणों की संख्या 77 हजार 607 है। प्रदेश की कोरोना ग्रोथ रेट 0.9%, सात दिन की पॉजिटिविटी 10% तथा आज की पॉजिटिविटी 7% है।

03 जिलों में 200 से अधिक नए अधिक प्रकरण

प्रदेश के 3 जिलों में 200 से अधिक नए प्रकरण तथा 9 जिलों में 100 से अधिक नए प्रकरण आए हैं। इंदौर में 1153, भोपाल में 653, जबलपुर में 324, सागर में 198, रीवा में 175, रतलाम में 160, उज्जैन में 151, सिंगरौली में 115 तथा ग्वालियर जिले में 105 नए प्रकरण आए हैं।32 जिलों में 10% से कम पॉजिटिविटी

प्रदेश के 9 जिलों में 5% से कम साप्ताहिक पॉजिटिविटी है, वहीं 32 जिलों में 10% से कम साप्ताहिक पॉजिटिविटी है। गुना, छिंदवाड़ा, अशोकनगर, बड़वानी, भिंड, बुरहानपुर, झाबुआ, अलीराजपुर, खंडवा में 5% से कम साप्ताहिक पॉजिटिविटी है तथा इन जिलों सहित ग्वालियर, होशंगाबाद, मंदसौर, धार, कटनी, सतना, बालाघाट, रायसेन, शाजापुर, नरसिंहपुर, राजगढ़, देवास, विदिशा, सिवनी, मंडला, आगर-मालवा, छतरपुर, मुरैना, श्योपुर, दतिया, निवाड़ी, टीकमगढ़, तथा हरदा में 10 प्रतिशत से कम साप्ताहिक पॉजिटिविटी है।

पंचायत अनुसार योजना बनाएं

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सागर जिले की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण रोकने व समाप्त करने के लिए पंचायत अनुसार योजना बनाएँ। मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने बताया कि सागर जिले में कस्बों में कोविड केयर सेंटर प्रारंभ होने के अच्छे परिणाम सामने आए हैं। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि बुंदेलखण्ड मेडिकल कॉलेज की व्यवस्थाएँ चुस्त-दुरूस्त की जाएँ।

21 हजार 495 मरीजों का नि:शुल्क इलाज

प्रदेश में कोविड के 21 हजार 495 मरीजों का नि:शुल्क इलाज किया जा रहा है। इनमें से 13 हजार 785 का शासकीय अस्पतालों में, 2307 का अनुबंधित अस्पतालों में तथा 5403 मरीजों का मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के अंतर्गत सम्बद्ध निजी अस्पतालों में इलाज चल रहा है। मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना में मरीजों के इलाज पर शासन द्वारा आज की‍स्थिति में 6 करोड़ 87 लाख 49 हजार 952 रूपए व्यय हुआ।

दिल्ली को ब्लैक फंगस से बचाने की योजना, प्रारंभ

सत्येंद्र ठाकुर   
नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को कहा कि दिल्ली सरकार के तीन अस्पतालों में ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस के इलाज के लिए विशेष केंद्र बनाये जाएंगे। केजरीवाल ने यहां एक बैठक में अधिकारियों और विशेषज्ञों के साथ ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों पर विचार-विमर्श करने के बाद यह घोषणा की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ब्लैक फंगस बीमारी की रोकथाम और इलाज के लिए बैठक में कुछ अहम निर्णय लिए। ब्लैक फंगस के इलाज के लिए लोक नायक जयप्रकाश अस्पताल, गुरु तेग बहादुर अस्पताल और राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में केंद्र बनाये जाएंगे।’’

बादल फटने से 1 युवक की मौत 2 युवतियां लापता

पंकज कपूर  

देहरादून। उत्तराखंड में बीती रात से लगातार हो रही बारिश के बाद कई जनपदों में नुकसान की सूचना है। वहीं देहरादून के चकराता के क्वासी क्षेत्र के बिजनाड खड्ड में बादल फटने बाद एक व्यक्ति की मौत हो गई है, जबकि दो लापता बताये जा रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार चक्रवाती तूफान ताउते का असर उत्तराखंड में भारी बारिश के रूप में देखा जा रहा है। देहरादून के कई इलाकों में अतिवृष्टि से कई मवेशी बह गये हैं और एक से अधिक लोगों की मौत का अंदेशा है।देहरादून जनपद के जौनसार बाबर के क्वासी क्षेत्र में बिजनाड खड्ड नामक स्थान पर बादल फटने की घटना में तीन लोगों के गायब हो गए और कई पालतू मवेशी भी बह गये। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार तहसील चकराता के क्वासी क्षेत्र के बिजनाड खड्ड में गुरुवार की की सुबह लगभग 8:30 बजे बादल फटा है। तेज पानी व मलबे की चपेट में आकर तीन लोग लोग जिसमें बह गए हैं।

उप जिलाधिकारी कालसी चकराता संगीता कनौजिया ने बताया कि तहसीलदार चकराता, पुलिस, एनडीआरएफ की टीम, स्वास्थ्य विभाग की टीम एंबुलेंस मौके पर है हैं। वे स्वयं भी मौके पर जा रही हैं। मृतक की पहचान मुना (32 वर्ष) के रूप में हुइ है, जबकि काजल (13 वर्ष) व साक्षी (13 वर्ष) लापता है।

शामली: छत गिरने से महिला व 3 बच्चों की मौत हुईं

भानु प्रताप उपाध्याय               

शामली। जनपद में बीते 24 घंटों से हो रही बारिश ने जमकर कहर बरपाया। नगर के मोहल्ला कलंदर शाह पंसरियान में गुरुवार सुबह बारिश के दौरान घर की कच्ची छत गिरने से एक परिवार की महिला व तीन बच्चों की मौत हो गई। हादसे की जानकारी पाकर एसडीएम संदीप कुमार कोतवाली पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे। मजदूरी कर परिवार का पोषण करने वाले साहिद की पत्नी 36 वर्षीय अफसाना, बेटे 14 वर्षीय सुहेल, 12 वर्षीय बेटी सानिया व 10 वर्षीय बेटी इरन के साथ कमरे में सो रही थी। साहिज एक बेटे के साथ बाहर बरामदे में सो रहा था। गुरुवार सुबह अचानक बारिश में कमरे की कच्ची छत गिर गई तब मलबे में महिला व उसके तीनों बच्चे दब गए। उनकी चीख पुकार सुनकर साहिद व बेटा भी जगा और पड़ोसी भी मौके पर पहुंच गए।

सभी ने मशक्कत कर मलबे से सभी को बाहर निकाला। इरन को पड़ोसी पास में निजी चिकित्सक के यहां ले गए। वहां उसकी मौत हो गई जबकि महिला व दो बच्चों को शामली सीएचसी ले जाया गया। वहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। हादसे की सूचना पाकर एसडीएम व कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची थी। स्वजनों ने शवों का पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया। वह शवों को घर ले गए है। हादसे में क्षेत्र में शोक छाया है। स्वजन का रो रोकर बुरा हाल था।

नारनौल-दादरी सड़क निर्माण, 225 करोड़ स्वीकृत

राणा ओबराय              

चंडीगढ़। नारनौल-दादरी सड़क को चारमार्गी बनाने के लिए सरकार ने 225 करोड़ रुपये से अधिक की राशि की प्रशासनिक स्वीकृति जारी कर दी है और जल्दी ही इसकी टेंडर प्रक्रिया प्रारंभ कर दी जाएगी। यह जानकारी देते हुए नांगल चौधरी विधायक डा. अभय सिंह यादव ने बताया कि इस सड़क की हालत को देखते हुए 20 दिसंबर 2020 को नारनौल में हुई रैली में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के समक्ष यह मामला पूर्व मंत्री रामबिलास शर्मा के अतिरिक्त उन्होंने भी मुख्यमंत्री के समक्ष रखा था।

मुख्यमंत्री ने स्टेज से ही इस सड़क को चारमार्गी बनाने की घोषणा की थी। उन्होंने बताया कि तदोपरांत इस रोड की मरम्मत के लिए चार करोड़ रुपये की राशि हरियाणा सरकार द्वारा जारी कर दी गई थी। इस सड़क के अधिकांश भाग की मरम्मत का काम पूरा हो चुका है। सरकार से लगातार संपर्क में रहकर इस सड़क को चारमार्गी बनाने के प्रयास जारी थे।

नए स्ट्रेन को ‘सिंगापुर वेरिएंट’ बताने पर मचा बवाल

अकांशु उपाध्याय          

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को ‘सिंगापुर वेरिएंट’ बताने पर अरविंद केजरीवाल के बयान से ऐसा बवाल मचा कि भारत सरकार को सिंगापुर के सामने सफाई देनी पड़ी। अरविंद केजरीवाल के बयान पर विवाद के बाद भारत सरकार की सफाई से सिंगापुर ने बुधवार को संतोष तो जाहिर किया। मगर उसने गलत सूचना के प्रसार को रोकने लिए बड़ा कदम उठाया है।

सिंगापुर सरकार ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ में एंटी मिसइनफॉर्ममेशन कानून यानी प्रोटेक्शन फ्रॉम ऑनलाइन फॉल्सहुड एंड मैनिपुलेशन कानून  लागू कर दिया है। दरअसल, सिंगापुर में ऑनलाइन फैलाए जाने वाले झूठ को रोकने के लिए यह कानून है। यह गलत जानकारी को फैलने से रोकने के लिए बनाया गया है।सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दफ्तर को फेसबुक, ट्विटर और स्थानीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को सामान्य सुधार-संबंधी निर्देश जारी करने को कहा है। इसका मतलब है कि इस कानून के लागू होने के बाद अब फेसबुक, ट्विटर और हार्डवेयरजोनडॉटकॉम समेत सोशल मीडिया कंपनियों को सिंगापुर में सभी एंड-यूजर्स को एक करेक्शन नोटिस भेजना होगा। इसका मतलब है कि सिंगापुर में अरविंद केजरीवाल के बयान से संबंधित कोई भी सूचना नहीं दिखाई जाएगी।

सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्रालय के बयान के मुताबिक, इसके तहत अब सोशल मीडिया कंपनियों को सिंगापुर वेरिएंट के संबंध में झूट को लेकर सभी एंड-यूजर्स को एक करेक्शन और स्पष्टिकरण देना होगा। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को यह बताना होगा कि कोरोना का कोई सिंगापुर वैरिएंट नहीं है और न कि इसका कोई साक्ष्य है कि कोई कोरोना वेरिएंट बच्चों के लिए बेहद खतरनाक है। बता दें कि दिल्ली के सीएम ने मंगलवार को कहा था कि सिंगापुर में मिला नया स्ट्रेन भारत में तीसरी लहर का कारण बन सकता है। जो बच्चों को अधिक प्रभावित कर सकता है।

हिसार: 350 किसानों पर हत्या के प्रयास का केस

राणा ओबराय                 

हिसार। हरियाणा के जिला हिसार में करीब 350 किसानों पर हत्या के प्रयास का केस दर्ज किया गया है। दरअसल मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कोविड अस्पताल के उद्घाटन के अवसर पर कोविड अस्पताल के बाहर आंदोलनरत किसानों और पुलिसकर्मियों में टकराव की स्थिति के बाद पुलिस ने कई धाराओं के तहत ये केस दर्ज किया है। 

केस अर्बन एस्टेट थाना प्रभारी इंस्पेक्टर वीरेंद्र कुमार की शिकायत पर दर्ज हुआ है। हिसार पुलिस की ओर से बुधवार देर रात जारी बयान के अनुसार किसानों व पुलिस के बीच टकराव में पांच महिला पुलिसकर्मियों सहित 20 पुलिसकर्मी घायल हुए थे। जिनका नागरिक अस्पताल में इलाज किया गया।

निकट भविष्य में टीकों की आपूर्ति आसान होगी

अकांशु उपाध्याय                   

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि टीकाकरण की रणनीति को लेकर केंद्र सरकार, राज्यों से मिले सभी सुझावों को आगे बढ़ा रही है और इसे ध्यान में रखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय राज्यों को अगले 15 दिनों की, टीकों की खुराक की सूचना उपलब्ध करा रहा है। उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में टीकों की आपूर्ति आसान होगी और इससे टीकाकरण की पूरी प्रक्रिया को भी आसान बनाने में मदद मिलेगी।

प्रधानमंत्री वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से छत्‍तीसगढ़, हरियाणा, केरल, महाराष्‍ट्र, ओडिशा, पुडुचेरी, राजस्‍थान, उत्‍तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और आंध्रप्रदेश के जिला अधिकारियों और जमीनी स्तर पर काम करने वाले अधिकारियों से संवाद कर रहे थे। ज्ञात हो कि महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश सहित कुछ राज्‍यों में कोविड-19 मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

यूपी के कई इलाकों में दिनभर रहा 'ताउ ते' का असर

हरिओम उपाध्याय              
लखनऊ। महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों में तबाही मचा रहे चक्रवाती तूफान ताउते का असर बुधवार को यूपी के कई इलाकों में दिनभर रहा। प्रचंड गर्मी वाले मई में सावन के महीने का एहसास हुआ। दिनभर बारिश की फुहारें और ठंडी हवाएं चलती रहीं। शहरों का दिन का तापमान सामान्य से 11 डिग्री तक नीचे खिसक गया। आईएमडी के अनुसार अभी इसमें और गिरावट आने का आसार है क्योंकि गुरुवार को भी ताउते का असर बना रहेगा। मौसम में बदलाव पिछले तीन दिनों से बना हुआ है। पश्चिमी विक्षोभ और ताउते तूफान के कारण आसमान में बादलों का जमावड़ा बना रहा। आद्रता बढ़ने से चिपचिपी गर्मी शुरू हो गई थी। शरीर का पसीना नहीं सूख रहा था। गुजरात व महाराष्ट्र से लगभग 1000 किलोमीटर दूर तक पहुंचने में तूफान तो कमजोर हो गया, लेकिन हवा का कम दबाव बना रहा। बुधवार को सुबह से बारिश शुरू हुई तो दिनभर चलती ही रही। कभी तेज तो कभी रिमझिम बारिश से पारा लुढ़क गया। इससे लोगों को अपने घरों में एसी, कूलर व पंखा तक बंद करना पड़ गया।

मौसम विभाग के अनुसार बीते लखनऊ में 24 घंटे में कुल 22.2 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड हुई है। सुबह के वक्त काफी तेज बारिश हुई है। इसमें सुबह 8.30 बजे तक 13 मिलीमीटर हो गई थी। इसके बाद रात 8.30 बजे तक 9.2 मिली मीटर बारिश दर्ज हुई है। गुरुवार को भी दिनभर बारिश के आसार हैं। शुक्रवार को बारिश की संभावना तो नहीं है, लेकिन बादलों की आवाजाही बनी रहेगी। दिनभर हुई बारिश के कारण दिन और रात का पारा लुढ़क गया। लखनऊ का सामान सामान्य से 11 डिग्री कम रिकॉर्ड हुआ है। अधिकतम तापमान 28.6 डिग्री रिकॉर्ड हुआ है। एक दिन पहले यह सामान्य से नौ डिग्री कम यानी 30.6 डिग्री रिकॉर्ड हुआ था। वहीं रात का तापमान भी सामान्य से तीन डिग्री कम हो गया है। न्यूनतम तापमान 22.6 डिग्री रिकॉर्ड हुआ है। मंगलवार को यह 25.6 डिग्री दर्ज हुआ था। वहीं जेपी गुप्ता निदेशक आंचलिक मौसम विज्ञान केन्द्र नें बताया कि चक्रवात और पश्चिमी विक्षोभ के कारण गुरुवार को भी दिन भर बारिश के आसार हैं। शुक्रवार को मौसम साफ होने की उम्मीद है। बारिश नहीं होगी लेकिन बादलों की आवाजाही बनी रहने के आसार हैं।

यूपी की जनता की दिक्कतों पर चिंता प्रकट की

अकांशु उपाध्याय              

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने कोरोना महामारी के कारण उत्तर प्रदेश की जनता को पेश आ रही दिक्कतों पर चिंता प्रकट करते हुए बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आग्रह किया कि वह निजी अस्पतालों में उपचार की कीमतें तय करने, महंगाई पर रोक लगाने और बिजली की दर न बढ़ाने समेत कई जनकल्याणकारी कदम उठाएं।

उन्होंने योगी को पत्र लिखकर यह भी कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर से जो हालात पैदा हुए हैं, उनसे स्पष्ट है कि सरकार की पहले से कोई तैयारी नहीं थी। कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी ने कहा, ‘‘कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान व्यवस्था की ढुलमुल तैयारियों के चलते जनता को असहयनीय पीड़ा झेलनी पड़ी है। अप्रैल-मई में मचे हाहाकार ने स्पष्ट कर दिया कि सरकार की पहले से कोई तैयारी नहीं थी। कई सारे अनावश्यक नियम और लाल फीताशाही लोगों के लिए मुश्किलों का पहाड़ लेकर आए।’’

भारत: 24 घंटे में 2,76,110 नए मामलें सामने आएं

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। भारत में एक दिन मे कोविड-19 के 2,76,110 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2,57,72,440 हो गई। वहीं, संक्रमण से 3,874 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 2,87,122 हो गई। देश में चार दिन बाद 24 घंटे में संक्रमण से मौत के चार हजार से कम मामले सामने आए हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बृहस्पतिवार को सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, देश में संक्रमण के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में भी कमी आई है और अभी 31,29,878 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है। जो कुल मामलों का 12.14 प्रतिशत है।

नौसेना ने सागर में तलाश व बचाव अभियान चलाया

कविता गर्ग                  

मुंबई। अरब सागर में चार दिन पहले डूबे बजरे पर मौजूद लोगों में से 38 अब भी लापता हैं और उन्हें खोजने के लिए घने अंधेरे के बीच सर्चलाइट की मदद से नौसेना का तलाश एवं बचाव अभियान रात भर चला। हालांकि और लोगों के जीवित बचे होने की संभावना बृहस्पतिवार तक क्षीण हो चुकी थी। उल्लेखनीय है कि बजरा पी305 चक्रवाती तूफान ‘ताउते’ के कारण मुंबई के तट से कुछ दूरी पर सागर में फंस गया था और फिर सोमवार को डूब गया था। नौसेना ने बृहस्पतिवार को हेलीकॉप्टर तैनात किए और हवाई मार्ग से तलाश व बचाव अभियान चलाया। पी305 पर मौजूद रहे लोगों में से कम से कम 37 लोगों की मौत हो चुकी है, 38 लोग अब भी लापता हैं।

26 मई को वैशाख पूर्णिमा के दिन पहला चंद्र ग्रहण

नई दिल्ली। साल 2021 का पहला ग्रहण होगा चंद्र ग्रहण। जो 26 मई को लगने जा रहा है। ग्रहण वैशाख पूर्णिमा के दिन लगेगा। ये पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा जो दुनिया भर के कई देशों में दिखाई देगा। भारत में चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण से पहले सूतक काल लग जाता है। सूतक के समय किसी भी तरह के शुभ कार्यों को करने की मनाही होती है। चंद्र ग्रहण का सूतक ग्रहण लगने से ठीक 9 घंटे पहले ही शुरू हो जाता है। भारत में उपच्छाया चंद्र ग्रहण दिखाई देगा।

कहां देगा दिखाई?

पूर्वी एशिया, प्रशांत महासागर, उत्तरी व दक्षिण अमेरिका के ज्यादातर हिस्सों और ऑस्ट्रेलिया से पूर्ण चंद्रग्रहण दिखाई देगा। भारत के अधिकांश हिस्सों में पूर्ण ग्रहण के दौरान चंद्रमा पूर्वी क्षितिज से नीचे होगा और इसलिए देश के लोग पूर्ण चंद्रग्रहण नहीं देख पाएंगे। लेकिन पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों के लोग आंशिक चंद्र ग्रहण का आखिरी हिस्सा ही देख पाएंगे, वह भी पूर्वी आसमान से बहुत करीब, जब चंद्रमा निकल ही रहा होगा।

इस नक्षत्र और राशि पर पड़ेगा इसका प्रभाव:

चंद्र ग्रहण वृश्चिक राशि और अनुराधा नक्षत्र में लगने जा रहा है। इसलिए इस राशि और नक्षत्र के जातकों पर इसका सबसे अधिक प्रभाव पड़ेगा। आपके बनते हुए काम बिगड़ने के आसार रहेंगे। स्वास्थ्य को लेकर चिंता बनी रहेगी। वाद-विवाद का सामना करना पड़ेगा। वाणी में कटुता आने से करीबी संबंध बिगड़ेंगे।

चंद्र ग्रहण के बुरे प्रभाव से बचने के उपाय:

चंद्र ग्रहण के बुरे प्रभाव से बचने के लिए ग्रहण खत्म होने के बाद किसी पवित्र नदी या फिर स्नान करने वाले जल में गंगा जल डालकर स्नान कर स्वच्छ हो जाएं। स्नान के बाद जरूरतमंदों को यथा संभव खाद्य पदार्थों का दान कर देना चाहिए। इससे चंद्र ग्रहण का बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है।

कश्मीर के लिए परमाणु बम का इस्तेमाल करें पीएम

हरिओम उपाध्याय   

इस्लामाबाद। फिलस्‍तीन पर इजरायली हमले के बीच पाकिस्‍तानी सांसद मौलाना चित्राली ने इमरान सरकार से कहा कि इजरायल के खिलाफ जिहाद ही एकमात्र उपाय है। इतना ही नहीं उन्होंने एक कदम आगे बढ़ते हुए भड़काऊ अंदाज में कहा कि फिलिस्‍तीन और कश्‍मीर की आजादी के लिए सरकार परमाणु बम और मिसाइलों का इस्‍तेमाल करने से नहीं हिचके। चित्राली ने कहा, 'हमने परमाणु बम क्‍या म्‍यूजियम में देखने के लिए बनाए हैं? अगर हम फिलिस्‍तीन और कश्‍मीर को आजाद नहीं करा सकते हैं तो हमें मिसाइल, परमाणु बम या विशाल सेना की कोई जरूरत नहीं है।'

वह यहीं नहीं रुके और पाकिस्तान से अपील करते हुए कहा कि सरकार को यूहदी मुल्क पर परमाणु बम से हमला करना चाहिए। उन्होंने कहा कि क्या हमने परमाणु बम और मिसाइल बच्चों को दिखाने के लिए बनाया है? अगर हम कश्मीर और फिलिस्तीन को बचाना चाहते हैं तो हमें इसका इस्तेमाल करना होगा। नहीं तो मुस्लिम देशों पर धीरे धीरे शिकंजा कसता रहेगा।
फिलिस्तीनियों पर हवाई हमले को लेकर तुर्की के बाद पाकिस्तान वो दूसरा देश है जो इजरायल के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय समुदाय को लामबंद करने में जुटा हुआ है। इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सऊदी अरब के विदेश मंत्री से बात करके फिलिस्तीन के साथ खड़े होने का ऐलान किया था। पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इस बीच अपने देशवासियों से भी एक अपील भी की है।
शाह महमूद कुरैशी ने संसद की कार्यवाही के दौरान ही पाकिस्तानियों से इजरायल का पुरजोर विरोध करने की बात कही। कुरैशी ने फिलिस्तीनियों पर इजरायल के हवाई हमले के खिलाफ जुमे के दिन शुक्रवार को पूरे पाकिस्तान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन का आह्वान किया है।
नेशनल असंबेली में इजरायल के अत्याचारों पर चर्चा समाप्त करते हुए कुरैशी ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान प्रस्ताव पर सहमत हैं और उनकी रजामंदी के बाद ही वह इसका ऐलान कर रहे हैं। इजरायल के खिलाफ लामबंदी से पहले कुरैशी ने यह ऐलान किया।
शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासभा की एक आपातकालीन सत्र बुलाने की मांग की जाएगी जहां वह और उनके तुर्की समकक्ष फिलिस्तीन के लिए आवाज उठाएंगे। गाजा की स्थिति के बारे में बात करते हुए कुरैशी ने कहा कि सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण यह है कि फिलिस्तीन में तुरंत सीजफायर लागू किया जाना चाहिए।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

1. अंक-278 (साल-02)
2. शुक्रवार, मई 21, 2021
3. शक-1984, बैसाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि- दसवीं, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:58, सूर्यास्त 07:07।
5. न्‍यूनतम तापमान -10 डी.सै., अधिकतम-28+ डी.सै.। तेज हवाओं के साथ बरसात की संभावना बनी रहेगी।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...