शनिवार, 22 जुलाई 2023

प्रदेश के कर्मचारियों के हित में फैसला: एचसी 

प्रदेश के कर्मचारियों के हित में फैसला: एचसी 

नरेश राघानी 

जयपुर। राजस्थान हाई कोर्ट ने प्रदेश के लाखों कर्मचारियों के हित में फैसला दिया है। अब 30 जून तक रिटायर्ड होने वाले कर्मचारियों को उनके पिछले एक साल की वेतन वृद्धि का लाभ दिया जाएगा। जस्टिस अनूप ढंढ की अदालत ने रामबाबू गुप्ता समेत 150 लोगों की याचिका पर फैसला सुनाते हुए कहा- सरकार को 30 जून तक रिटायर्ड होने वाले कर्मचारियों को सालाना वेतन वृद्धि का लाभ देना होगा।

दरअसल, अभी तक राज्य सरकार व इससे जुड़े बोर्ड व निगमों में 1 जुलाई को वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ दिया जाता है। इससे 30 जून व इससे पहले रिटायर्ड होने वाले कर्मचारियों को इसका लाभ नहीं मिलता था। जिसे रिटायर्ड कर्मचारियों ने हाई कोर्ट में चुनौती दी थी।

इस पर समर वैकेशन से पहले हाई कोर्ट ने सुनवाई पूरी करके फैसला सुरक्षित रख लिया था। शुक्रवार को जस्टिस अनूप ढंढ ने करीब 150 से ज्यादा याचिकाओं पर फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा- जिस कर्मचारी ने रिटायर होते वक्त उस साल में 6 माह से अधिक काम किया है। उसे उस साल की वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ देय होगा। सरकार की ओर से कोर्ट में कहा गया कि इस फैसले से सरकार पर करोड़ों रुपए का आर्थिक भार आएगा। इस दलील को कोर्ट ने नहीं माना।

याचिकाकर्ताओं तक सीमित होगा फैसला, लेकिन प्रभावित लाखों होंगे।

याचिकाकर्ताओं की ओर से पैरवी करने वाले वकील विज्ञान शाह व अन्य ने कहा- अदालत का यह फैसला याचिकाकर्ताओं तक ही सीमित होगा। इससे अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित प्रदेश के लाखों कर्मचारी होंगे। फैसले के बाद सरकार को याचिकाकर्ताओं को तो इसका लाभ देना ही होगा। साथ ही अन्य कर्मचारियों को लेकर भी सरकार को फैसला लेना होगा।

उन्होंने कहा, अगर सरकार ऐसा नहीं करेगी तो इस फैसले के आधार पर हर साल 30 जून तक रिटायर्ड होने वाले कर्मचारी कोर्ट का रुख करेंगे। इससे अदालत में लिटिगेशन बढ़ेगा।

पेंशन, ग्रेजुएटी, सेवानिवृत परिलाभों में मिलेगा फायदा।

इस फैसले के बाद 30 जून तक रिटायर होने वाले कर्मचारियों को सीधे-सीधे फायदा होगा। अभी तक रिटायर्ड होने पर कर्मचारियों को उनके वर्तमान वेतन पर ही सेवानिवृति का लाभ, पेंशन व ग्रेजुएटी का लाभ मिलता था। अब जब उन्हें वार्षिक वेतन वृद्धि मिलेगी। पेंशन व अन्य लाभों की गणना बढ़े हुए वेतन पर होगी। एक अनुमान के तहत इससे रिटायर्ड होने वाले कर्मचारियों को लाखों रुपए का फायदा होगा।

पाक: चुनाव के लिए 149 मिलियन डॉलर 

पाक: चुनाव के लिए 149 मिलियन डॉलर   

अखिलेश पांडेय  

इस्लामाबाद। वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि आर्थिक समन्वय समिति (ईसीसी) ने इस साल के आम चुनावों के लिए 149 मिलियन डॉलर से अधिक की धनराशि आवंटित करने के पाकिस्तान चुनाव आयोग (ईसीपी) के अनुरोध को मंजूरी दे दी है। रिपोर्ट के अनुसार, कुल राशि में से समिति ने गुरुवार को लगभग 34 मिलियन डॉलर आवंटित किए, जबकि शेष धनराशि ईसीपी की आवश्यकता के अनुसार चरणों में आवंटित की जाएगी।

देश की सत्तारूढ़ सरकार के दो प्रमुख गठबंधन सहयोगियों, पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के बयानों के अनुसार, देश में इस साल नवंबर में आम चुनाव होने की संभावना है। इसके अलावा, ईसीसी ने सिनेमा घरों को बिजली दरें वसूलने के संबंध में सूचना और प्रसारण मंत्रालय के सारांश पर विचार किया।

बयान में कहा गया है, पाकिस्तान में फिल्म उद्योग को पुनर्जीवित करने के लिए, ईसीसी ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है कि सिनेमाघरों से उद्योग के लिए स्वीकार्य दरों के अनुसार बिजली शुल्क लिया जा सकता है। बयान में कहा गया है कि ईसीसी ने भूमि मार्ग के माध्यम से निर्यात प्रसंस्करण क्षेत्रों से अफगानिस्तान तक वनस्पति तेल के निर्यात के संबंध में वाणिज्य मंत्रालय के सारांश पर भी विचार किया।

8 राज्य, 5.60 लाख किसान, 258 करोड़ क्लेम

8 राज्य, 5.60 लाख किसान, 258 करोड़ क्लेम

अकाशुं उपाध्याय 

नई दिल्ली। केंद्र की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) में किसानों को और अधिक सुविधा देते हुए सटीक उपज अनुमान एवं पंजीकरण प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने के लिए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने तीन महत्वपूर्ण पहलों- येस्टेक (प्रौद्योगिकी पर आधारित उपज अनुमान प्रणाली), विंड्स (मौसम सूचना डेटा सूचना प्रणाली) और एआईडीई (मध्यस्थ नामांकन के लिए ऐप) को किसानों को समर्पित किया। कार्यक्रम में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर तथा केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान मंत्री किरेन रिजिजू विशेष रूप से उपस्थित थे।

इस मौके पर केंद्र सरकार ने महत्वपूर्ण नीतिगत निर्णय के तहत, राज्यांश लंबित होने से किसानों को क्लेम मिलने में होने वाली कठिनाइयों से राहत प्रदान करते हुए 8 राज्यों के लगभग 5.60 लाख लाभार्थी किसानों को अपने स्तर पर 258 करोड़ रु. बतौर क्लेम जारी किए। इनमें गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, असम, ओडिशा व आंध्र प्रदेश के किसान शामिल हैं।

छात्रों ने दरोगा व कुलपति को बेरहमी से पीटा 

छात्रों ने दरोगा व कुलपति को बेरहमी से पीटा   

संदीप मिश्र 

गोरखपुर। खबर गोरखपुर से है, जहां एबीवीपी छात्रों ने दरोगा से मारपीट की फिर यूनिवर्सिटी के कुलपति और रजिस्ट्रार के साथ मारपीट की है। पूरा मामला समझते है, एबीवीपी के छात्र फीस वृद्धि को लेकर और अपनी माँगों को लेकर प्रदर्शन धरना दे रहे छात्रों ने पुलिस और यूनिवर्सिटी के कुलपति और रजिस्ट्रार से मारपीट की पूरा मामला उत्तर प्रदेश के गोरखपुर का है।

सीएम योगी आदित्यनाथ का क्षेत्र है, जहां से घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। उसके बाद राजनीतिक गलियारों में इस वीडियो की चर्चा है ट्विटर पर लगातार कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के नेता कार्यकर्ता इस वायरल वीडियो को पोस्ट कर रहे है और सीएम योगी पर निशाना साध रहे है। वही समाजवादी पार्टी ने ट्विट करते हुए लिखा...

“भाजपा संरक्षित छात्रों की गुंडई उजागर !

गौरतलब है कि, सीएम सिटी गोरखपुर में विश्विद्यालय परिसर में एबीवीपी के छात्रों ने किया हंगामा किया साथ ही कुलपति और पुलिस से की मारपीट। भाजपा सरकार के संरक्षण में उन्हीं के समर्थित लोग लगातर प्रदेश की कानून व्यवस्था ध्वस्त कर रहे है।

फ़िलहाल पुलिस मामले में जुट गई है। आपको बता दे कि एक हफ्ते पहले भी छात्रों ने यूनिवर्सिटी के स्टाफ से मारपीट की थी।

भाजपा में इस्तीफों की झड़ी लगी: हरियाणा   

भाजपा में इस्तीफों की झड़ी लगी: हरियाणा   

अंजली चौधरी  

कैथल। उत्तरी भारत पर शासन करने वाले 9वीं शताब्दी के शासक मिहिर भोज की मूर्ति के अनावरण को लेकर हरियाणा के कैथल में गुज्जर और राजपूत समुदायों के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। जिसके बाद इस्तीफे की झड़ी लग गई। कैथल जिले के कई भाजपा सदस्यों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। दरअसल, हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुज्जर प्रतिमा का अनावरण करने वाले थे, उनको राजपूत समुदाय से भारी विरोध का सामना करना पड़ा। इसके बाद सरकार ने विरोध को नियंत्रित करने के लिए भारी पुलिस तैनाती की। जिसके बाद से पार्टी से इस्तीफा देने वाले सदस्यों में काफी रोष व्याप्त है।

सीएम से चर्चा की मांग

इस मामले में बीजेपी किसान मोर्चा के संजीव राणा कहते हैं, “हमारे लोग शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे लेकिन प्रशासन ने जानबूझकर हम पर लाठीचार्ज किया। हम केवल यह मांग कर रहे थे कि हमारे महान नेता मिहिर भोज की नई प्रतिमा में उनका नाम हिंदू सम्राट लिखा जाए। हमने किसी से राजपूत या गुर्जर लिखने के लिए नहीं कहा, हमने केवल हिंदू सम्राट लिखने के लिए कहा था। बीजेपी के सभी राजपूत नेताओं ने अपना इस्तीफा हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ को भेज दिया है। हमने बीजेपी के सभी पदों से सामूहिक इस्तीफा दे दिया है। जब तक सीएम एमएल खट्टर हमसे चर्चा नहीं करते, तब तक हमारा बीजेपी से कोई संबंध नहीं होगा।”

सदस्यों ने प्रदेश अध्यक्ष को लिखा पत्र

 इस दौरान इस्तीफा देने वाले सदस्यों ने एक पत्र भी लिखा। प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष को लिखे पत्र में सदस्यों ने पार्टी पर उनके इतिहास को विकृत करने में मदद करने और पुलिस की मदद से मिहिर भोज की मूर्ति का अनावरण करने का आरोप लगाया है। इसमें ये भी कहा गया है कि मिहिर भोज को गुर्जर के रूप में दर्शाया गया है, जो कि गलत है। इस मामले में सदस्यों का कहना है कि सामूहिक इस्तीफा सिर्फ शुरुआत है। अगर पार्टी हमारे इतिहास को विकृत करना जारी रखती है, तो आगामी चुनावों में बुरी तरह हार जाएगी।

मां के आशिक को कुल्हाड़ी से काटकर मार डाला 

मां के आशिक को कुल्हाड़ी से काटकर मार डाला   

संदीप मिश्रा   

बाराबंकी। एक महिला अपने प्रेमी के साथ बिस्तर पर न्यूड थी। इस दौरान उसका 25 वर्षीय बेटा पहुंच गया। यह देखकर उसने गुस्से में मां के आशिक को कुल्हाड़ी से काटकर माैत के घाट उतार दिया। 55 वर्षीय मृतक प्रेमी मोहल्ले का ही रहने वाला था। बताया जा रहा है कि उसका आरोपी युवक की मां के साथ काफी समय से अवैध संबंध चल रहा था।

बाराबंकी जिले के थाना व कस्बा सुबेहा में देर शाम जब मोहल्ले का शख्स महिला से मिलने उसके घर गया और महिला के साथ बिस्तर पर सो रहा था तो इसी दौरान महिला के 25 वर्षीय बेटे ने उसे देखकर अपना आपा खो दिया। युवक ने घर में रखी कुल्हाड़ी से उसके ऊपर कई वार किए। कुल्हाड़ी के हमले से 55 वर्षीय व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। स्थानीय लोगों ने उसे आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया, जहां पर उसने दम तोड़ दिया। घटना के बाद कस्बे में हड़कंप का माहौल है। पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है।

सुबेहा के हवेली वार्ड के रहने वाले करीब 55 वर्षीय व्यक्ति औसाफ की मोहल्ले के ही रहने वाले एक 25 वर्षीय युवक अशफाक ने कुल्हाड़ी से कई वार कर हत्या कर दी। इस घटना के बाद कस्बे में हड़कंप मच गया। लोगों ने आनन-फानन में घायल औसाफ को इलाज के लिए सुबेहा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भर्ती करवाया। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची गई। वहीं इलाज के दौरान गंभीर घायल औसाफ ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

मणिपुर घटना से मेरा 'हृदय' दुख से भरा है 

मणिपुर घटना से मेरा 'हृदय' दुख से भरा है 

आनंद यादव

नई दिल्ली। महिलाओं पर यौन हमलों से जुड़ा वीडियो सामने आने के बाद राज्यसभा और लोकसभा में विपक्षी दलों ने पीएम पर निशाना साधा है। गुरुवार से संसद के मॉनसून सत्र की शुरुआत हुई। पीएम मोदी जब संसद पहुंचकर मीडिया से बात करने आए, तो उन्होंने मणिपुर के वायरल वीडियो का ज़िक्र किया था और कहा था कि ‘मणिपुर की घटना से मेरा हृदय दुख से भरा है।‘

पीएम ने कहा था कि ‘ये घटना शर्मसार करने वाली है। पाप करने वाले कितने हैं, कौन हैं वो अपनी जगह है, पर बेइज्जती पूरे देश की हो रही है। 140 करोड़ देशवासियों को शर्मसार होना पड़ रहा है। मैं मुख्यमंत्रियों से अपील करता हूं कि वो मां-बहनों की रक्षा के लिए कदम उठाएं।’

राजस्थान, छत्तीसगढ़, मणिपुर का ज़िक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘घटना चाहे किसी भी राज्य की हो, सरकार चाहे किसी की भी हो, नारी के सम्मान के लिए राजनीति से ऊपर उठकर काम करें।’ पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं देशवासियों को यकीन दिलाना चाहता हूं कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा। मणिपुर की बेटियों के साथ जो हुआ है उसे कभी माफ नहीं किया जाएगा। पीएम के इस बयान पर भी विपक्ष पूरी तरह उन पर हमलावर हो गया। जहाँ कांग्रेस ने पीएम की आलोचना इस बात पर किया कि वह ऐसी घटनाओं में भी राजनितिक बयान जारी कर रहे है। वही अन्य विपक्षी दल भी हमलावर है।

इसी क्रम में आज पूर्व क्रिकेटर और राज्यसभा सांसद हरभजन सिंह ने मणिपुर की घटना पर कहा कि इसने सबको शर्मसार किया है और यह देश के लिए सही नहीं है। सांसद में पीएम के बयान का भी जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘वो जो दरिंदे हैं, जिन्होंने हमारी देश की बेटी के साथ ऐसा सलूक किया है। जिसके कारण हम सब शर्मनाक होने की कगार पर पहुंच गए। यह देश के लिए सही नहीं है और पीएम ने कल कहा था कि उनको छोड़ा नहीं जाएगा। उचित कार्रवाई होगी। तो वह कार्रवाई हो और जल्द हो।’

'खेला होबे' रोजगार योजना का शुभारंभ किया 

'खेला होबे' रोजगार योजना का शुभारंभ किया 

शफी उस्मानी

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज एक नई रोज़गार गारंटी योजना शुरू किया है, जिसका नाम उन्होंने ‘खेला होबे’ रखा है। उन्होंने केद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुवे कहा है कि ‘मनरेगा योजना का जब तक पैसा नही आता है तब तक 100 दिन के रोज़गार गारंटी योजना के तौर पर यह योजना राज्य सरकार के पैसो से चलेगी जिसका नाम ‘खेला होबे’ रखा गया है।

ममता बनर्जी ने कहा है कि अगले साल नए इंडिया का जन्म होगा और भाजपा को केंद्र की सत्ता से हटाना ही इसका मुख्य लक्ष्य है। कांग्रेस समेत 26 विपक्षी दलों के गठबंधन का नाम इंडिया रखा गया है। बनर्जी शुक्रवार को कोलकाता के धर्मतल्ला इलाके में तृणमूल कांग्रेस की ओर से आयोजित शहीद रैली में बोल रही थीं।

उन्होंने कहा, ‘अगर 2024 के लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा सत्ता में लौटी तो लोकतंत्र की मौत हो जाएगी।’ तृणमूल कांग्रेस नेता ने मणिपुर की हिंसा के मुद्दे पर केंद्र की खिंचाई करते हुए सवाल किया कि आखिर केंद्र सरकार वहां कोई केंद्रीय टीम क्यों नहीं भेज रही है? उन्होंने कहा, ‘भाजपा की ‘बेटी बचाओ’ योजना अब ‘बेटी जलाओ’ में बदल गई है। बंगाल में पंचायत चुनाव के बाद तो भाजपा ने कई केंद्रीय टीमें भेजी है। लेकिन मणिपुर में एक भी नहीं, क्यों? अगले साल के आम चुनाव में भाजपा को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हमारी न तो दूसरी कोई मांग है और न ही हमें कोई कुर्सी चाहिए।’

सरकार की तरफ से पीड़ितों को राहत नहीं: हुड्डा  

सरकार की तरफ से पीड़ितों को राहत नहीं: हुड्डा  

राजेश ओबरॉय 

फरीदाबाद। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौ. भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि यमुना के जलस्तर बढऩे से फरीदाबाद से सटे गांवों व कालोनियों में भारी नुकसान हुआ है, लोगों के मकान टूट गए, फसलें नष्ट हो गई और पशुधन की भी हानि हुई है, साथ-साथ छोटे व्यापारी भी इस प्राकृतिक आपदा से प्रभावित हुए है, लेकिन सरकार की ओर से पीडि़त लोगों को कोई राहत नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि अवैध माइनिंग के चलते यमुना का रास्ता बदल गया, जिसके चलते यहां जलस्तर बढ़ा, लेकिन प्रशासन समय रहते ठोकरे बनवा देता या बांधों को मजबूत कर देता तो इनका नुकसान नहीं होता, लेकिन पिछले आठ-दस सालों से यमुना में अवैध खनन चल रहा है और एनजीटी ने इसको लेकर चेताया भी था, लेकिन सरकार व प्रशासन ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया। श्री हुड्डा शुक्रवार को तिगांव विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले यमुना प्रभावित गांव मंझावली, घरौंडा, अरुआ, चांदपुर, फज्जूपुर, नचौली, अमीपुर में बाढ़ पीडि़तों से मुलाकात करने के उपरांत पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

इस दौरान पूर्व विधायक ललित नागर ने श्री हुड्डा को बताया कि इस प्राकृतिक आपदा में लोगों का सब कुछ तबाह हो गया, किसी का परिजन चला गया तो किसी का घर-मकान बर्बाद हो गया,लेकिन सरकार की ओर से इन लोगों को रहने व खान-पान की भी व्यवस्था पर्याप्त रूप से नहीं करवाई जा रही है, जिसके चलते यह लोग जीवन जीने के लिए संघर्ष कर रहे है। श्री हुड्डा ने बाढ़ पीडि़तों से मिलकर उनका दुख बांटते कहा कि कांग्रेस पार्टी इस दुख की घड़ी में पूरी तरह से उनके साथ खड़ी है। 

पत्रकारों से बातचीत करते हुए श्री हुड्डा ने कहा कि अवैध माइनिंग के चलते यमुना का रास्ता बदल गया, जिसके चलते इस आपदा का सामना लोगों को करना पड़ा, क्योंकि हथिनीकुंड बैराज से इस बार तीन लाख 80 हजार क्यूसिक पानी छोड़ा गया था, जबकि वर्ष 2006 में आठ लाख क्यूसिक पानी छोड़ा गया था, यह सरकार को प्रशासन की लापरवाही का ही नतीजा है, जो लोगों को बाढ़ का सामना करना पड़ा। पूर्व मुख्यमंत्री श्री हुड्डा ने कहा कि आपदा के इस समय में सरकार को लोगों की मदद करनी चाहिए, लेकिन जो मुआवजा राशि सरकार ने घोषित की है, वह नाकाफी है। 

उन्होंने कहा कि जिस लोगों की फसल नष्ट हुई है, उन्हें 15 हजार प्रति एकड़ की बजाए 40 हजार रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा मिलना चाहिए वहीं जिनके मकान नष्ट हुए है, उन्हें नए मकान दिए जाने चाहिए और जिन लोगों की इस आपदा में मौत हुई है, उन्हें 4 लाख की जगह 20 लाख का मुआवजा मिलना चाहिए। भूपेंद्र हुड्डा ने कहा कि मौसम विभाग ने पहले ही अलर्ट कर दिया था, इसके बावजूद हरियाणा व दिल्ली की सरकारें सोती रही, नतीजतन लोगों को परेशानियों से जूझना पड़ा।

छत्तीसगढ़: सरकार ने चुनावी वादे पूरे किए 

छत्तीसगढ़: सरकार ने चुनावी वादे पूरे किए 

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। छत्तीसगढ में अनेक चिटफंड कंपनियो ने भोले-भाले लोगों को कम समय में पैसा डबल करने का झांसा देकर लाखों निवेशकों का अरबों रुपये लेकर फरार हो गए। वहीं, राज्य में कांग्रेस ने सत्ता में आने से पहले चिटफंड कंपनी में पैसा निवेश करने वाले लोगों को उनका पैसा वापस दिलाने का वादा किया था।

इस वादे को पूरा करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर धमतरी जिला प्रशासन ने जिले में चिटफंड कंपनी मिलियन माइन्स के जमीन को कुर्क कर जिले के 3660 निवेशकों को दो करोड़ 15 लाख की राशि का भुगतान किया गया है, जिससे निवेशको में काफी खुशी देखने को मिल रही है।

चिटफंड कपंनी में पैसा लगाने वाले निवेशको का कहना है कि उन्हे पैसा वापस मिलने की कोई उम्मीद नहीं थी, लेकिन प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल से असंभव काम को संभव कर दिखाया। निवेशकों का कहना है कि उनको जो पैसा मिला है उन्हे घर के महत्वपूर्ण कामो में खर्च किए हैं। वहीं, पैसा वापस दिलाने पर हितग्राहियों ने मुख्यमंत्री का दिल से अभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद किया है।

श्रीलंका में भारतीय रुपया प्रमाणित करेंसी   

श्रीलंका में भारतीय रुपया प्रमाणित करेंसी   

सुनील श्रीवास्तव   

कोलंबो। श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे 2 दिवसीय यात्रा पर भारत में हैं। उनकी इस यात्रा में दोनों देशों को वित्तीय आर्थिक संपर्कों को बढ़ाने, नई परियोजनाओं और निवेश को लेकर नए रास्ते तलाशने का अवसर मिलेगा। श्रीलंका ने भारतीय मुद्रा रुपए को घोषित विदेशी मुद्रा के रूप में अपनी प्रणाली में अधिसूचित किया है। गौरतलब है कि राष्ट्रपति पद का दायित्व संभालने के बाद रानिल विक्रमसिंघे की यह पहली भारत यात्रा होगी।

विदेश मंत्रालय के अनुसार, इस यात्रा के दौरान राष्ट्रपति विक्रमसिंघे नई दिल्ली में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से भेंट करेंगे और आपसी हितों से जुड़े विविध विषयों पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, विदेश मंत्री एस जयशंकर एवं अन्य गणमान्य लोगों के साथ चर्चा करेंगे। उसने कहा कि भारत की पड़ोस प्रथम नीति और सागर दृष्टिकोण में श्रीलंका एक महत्वपूर्ण साझेदार है। यह यात्रा दोनों देशों की दीर्घकालिक मित्रता की पुष्टि करेगी और सम्पर्क बढ़ाने और विभिन्न क्षेत्रों में आपसी लाभ आधारित सहयोग को विस्तार देने के रास्ते तलाशने का अवसर प्रदान करेगी।

विक्रमसिंघे की यह यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब श्रीलंका की कमजोर अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत दिख रहे हैं। विदेशी मुद्रा की भारी कमी के कारण श्रीलंका 2022 में वित्तीय संकट की चपेट में आ गया था। उसे 1948 में ब्रिटिश हुकूमत से आजादी के बाद सबसे बड़े आर्थिक संकट का सामना करना पड़ा। श्रीलंका ने पिछले साल अप्रैल के मध्य में पहली बार कर्ज अदा न कर पाने की घोषणा की थी। इस साल मार्च में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने उसे 2.9 अरब अमेरिकी डॉलर का राहत पैकेज दिया था।

श्रीलंका के विदेश मंत्रालय ने अपने हालिया बयान में कहा है कि राष्ट्रपति विक्रमसिंघे, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निमंत्रण पर भारत की आधिकारिक यात्रा पर हैं। ये यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब दोनों देश इस साल राजनयिक संबंधों की स्थापना की 75वीं वर्षगांठ मना रहे हैं। श्रीलंका के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि यह यात्रा लंबे समय से जारी द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाएगी और मजबूत करेगी।

उत्तराखंड-हिमाचल में 4 स्थानों पर बादल फटा 

उत्तराखंड-हिमाचल में 4 स्थानों पर बादल फटा   

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। उत्तर भारत की बात की जाए तो पहाड़ों में भी लगातार मौसम खराब हो रहा है। उत्तराखंड और हिमाचल में शुक्रवार को 4 स्थानों पर बादल फटने के कारण संपत्ति को काफी ज्यादा नुकसान पहुंचा है। हिमाचल में 3 स्थानों पर बादल फटने की खबर थी, वहीं उत्तराखंड में पौड़ी के थलीसैंण में बादल फटने से आए मलबे की चपेट में आकर गौशाला और 8 छोटी पुलिया बह गई।

उत्तराखंड में भूस्खलन के बाद यात्रियों की परेशानी बढ़ गई है। यमुनोत्री और बद्रीनाथ मार्ग कई घंटे बंद रहा। मिली जानकारी के मुताबिक फिलहाल यमुनोत्री में 200 से ज्यादा तीर्थ यात्री अलग-अलग स्थानों पर फंसे हुए हैं। 200 से अधिक गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से कटा हुआ है।

कटरा में माता वैष्णो देवी के महत्वपूर्ण बैटरी कार मार्ग पर तड़के फिर भूस्खलन हुआ। 40 से 50 फीट मार्ग क्षतिग्रस्त होने से इसे श्रद्धालुओं की आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया है। मौसम विभाग ने 25 जुलाई तक मौसम के मिजाज इसी तरह बने रहने की संभावना जताई है।

मौसम विभाग के मुताबिक, देश के तटीय राज्यों में शनिवार को भी भारी बारिश देखने का मिल सकती है। ओडिशा, तेलंगाना, महाराष्ट्र और कर्नाटक के तटीय तटों पर अगले कुछ दिन भारी बारिश की आशंका जताई गई है। पहाड़ी राज्यों में बारिश को लेकर मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। तीर्थयात्रियों को सावधानी बरतने की सलाह दी गई है।

पोल्ट्री हाउस गिरा, भारी नुकसान: बरसात  

पोल्ट्री हाउस गिरा, भारी नुकसान: बरसात  

अमित शर्मा  

जालंधर। महानगर में सुबह से हो रही तेज बारिश के कारण हादसों के मामले सामने आ रहे है। कुछ ही समय पहले सोढल मंदिर की दीवार गिरने का मामला सामने आया था। वहीं नुस्सी गांव में पोल्ट्री फार्म गिरने का मामला सामने आया है। मामले की जानकारी देते हुए पोल्ट्री फार्म के मालिक मंदीप ने बताया कि बारिश के कारण तीन मंजिल दीवार गिर गई।

इस हादसे में भारी नुकसान हुआ है। एंनकाउंटर न्यूज को जानकारी देते हुए मंदीप ने बताया इस घटना के दौरान ढाई से 3 हजार मुर्गियां मर गई। वहीं हादसे में उनका 25 से 30 लाख शेड का और 5 लाख रुपए का मुर्गियां मरने से नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि पोल्ट्री फार्म में पक्की शेड डालने के बावजूद उनका भारी नुकसान हुआ है।

गाजियाबाद कार्यालय पर 'ईओ' का घेराव किया 

गाजियाबाद कार्यालय पर 'ईओ' का घेराव किया 

अश्वनी उपाध्याय 

गाजियाबाद। शनिवार को श्री राजीव पहिवाल प्रदेश अध्यक्ष, अखिल भरतीय निगम मज़दूर अधिकार यूनियन रजि. ( उ. प्र.) जी के नेतृत्व में सैकड़ो सफ़ाई कर्मचारी ने नगर पालिका परिषद लोनी ग़ाज़ियाबाद कार्यालय पर पहुँच कर अधिशासी अधिकारी का घेराव किया।

सफ़ाई कर्मचारियों का कहना है, कि इस महीने की 22 तारीख हो गयी है, मगर अभी तक सेलरी नहीं मिल पाई है।इसी बात से आक्रोशित हो कर  नगर पालिका का घेराव किया। अधिशासी अधिकारी जी ने सोमवार तक सैलरी देने का आश्वासन दिया है।

जिसपर पहिवाल ने कहा है, अगर सोमवार को सैलरी नहीं मिली तो कर्मचारी काम बंद कर सड़को पर उतरकर आंदोलन करने को मजबूर होंगे, तथा इसकी पूरी ज़िम्मेदारी चेयरमैन लोनी नगर पालिका परिषद एवं प्रशाशन की होगी‌।

विपक्ष के सवालों से भाग रही सरकार: कांग्रेस 

विपक्ष के सवालों से भाग रही सरकार: कांग्रेस 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस ने कहा है कि मणिपुर को लेकर मोदी सरकार राजनीति कर रही है और इस मुद्दे पर विपक्ष के सवालों से भाग रही है। इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद में मणिपुर को लेकर जवाब देने से बच रहे हैं। कांग्रेस नेता श्रीमती रंजीत रंजन ने शनिवार को यहां पत्रकारों से कहा कि लगभग तीन महीने से मणिपुर जल रहा है।

महिलाओं के साथ अत्याचार हो रहे हैं और शर्मनाक घटनाएं वहां हुई है लेकिन श्री मोदी ने संसद की बजाय संसद के बहार इस मुद्दे पर बयान दिया है और उसमें भी राजस्थान तथा छत्तीसगढ़ जैसे कांग्रेस शासित राज्यों का नाम लेकर राजनीति की है। सरकार सदन के भीतर नहीं बल्कि बाहर बोलती है और अब बाल विकास तथा महिला कल्याण मंत्री ने इस पर बयान दिया है। केंद्रीय मंत्री को घेरते हुए उन्होंने कहा,"जब भी मोदी सरकार डरती है, अपने मंत्रियों को बिल से बाहर निकालती है। ये एक भगोड़ी सरकार है जो विपक्ष से डरती है, सदन में आने से डरती है और सवालों से बचती है। हम चाहते हैं कि श्री मोदी सदन में आएं और मणिपुर में हो रही हिंसा पर चर्चा हो।" उन्होंने कहा,"मणिपुर के मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि वायरल वीडियो में जिस तरह महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार हुआ है, वैसी राज्य में सैकड़ों घटनाएं हुई हैं और कई प्राथमिकताएँ दर्ज हैं। क्या इसकी जानकारी प्रधानमंत्री को नहीं होगी।

जहां हिंसा हो रही है, वह अंतरराष्ट्रीय सीमा वाला इलाका है, तो क्या सरकार को सदन में इस बारे में जवाब नहीं देना चाहिए।" इस बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, "मुझे अफसोस है क‍ि मण‍िपुर जल रहा है। क‍ितने लोग मारे गए क‍िसी को पता नहीं। मण‍िपुर के मुख्‍यमंत्री कह रहे- वहां ऐसी सैकड़ों घटनाएं हुई हैं।

मोदी जी खुद मणि‍पुर नहीं जाते लेक‍िन मीट‍िंग बुला सकते थे। रोज पता कर सकते थे, कंट्रोल कैसे होगा इस पर बात हो सकती थी। इसकी जगह प्रधानमंत्री चुनाव के ल‍िए कर्नाटक, राजस्‍थान, छत्‍तीसगढ़ घूम रहे हैं। प्रधानमंत्री पद की एक गर‍िमा होती है, हमारे प्रधानमंत्री दुन‍िया भर में जा रहे हैं लेक‍िन मण‍िपुर नहीं जा रहे।

बारिश: हथिनीकुंड बैराज का जलस्तर बढ़ा 

बारिश: हथिनीकुंड बैराज का जलस्तर बढ़ा 

अमित शर्मा 

चंडीगढ़। पंजाब और हरियाणा के कई हिस्सों में गत 24 घंटे से हो रही बारिश की वजह से शनिवार को हथिनीकुंड बैराज के जलस्तर में तेजी से वृद्धि देखी गई। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जलसंग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश की वजह ये यमुनानगर स्थित हथिनीकुंड बैराज में शनिवार सुबह आठ बजे जल प्रवाह दर 87,177 क्यूसेक था जो दोपहर 12 बजे बढ़कर 2,40,832 क्यूसेक के स्तर पर पहुंच गया।

मौसम विभाग के मुताबिक शनिवार सुबह साढ़े आठ बजे समाप्त हुए 24 घंटे की अवधि में हरियाणा के अंबाला में 14.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई जबकि रोहतक और कुरुक्षेत्र में क्रमश: 14.2 मिमी और 12 मिमी बारिश हुई।

मौसम विभाग के मुताबिक हरियाणा के पंचकूला में सबसे अधिक 71.5 मिलीमीटर बारिश इस अवधि में हुई। पड़ोसी पंजाब में रूपनगर का वह स्थान रहा जहां सबसे अधिक 34 मिमी बारिश दर्ज की गई। राज्य के अमृतसर, गुरदासपुर और फतेहगढ़ में क्रमश: 32.6 मिमी, 32.8 मिमी और 25.5 मिमी बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने बताया कि दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में गत 24 घंटे के दौरान 53 मिमी बारिश हुई।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-280, (वर्ष-06) पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. रविवार, जुलाई 23, 2023

3. शक-1944, श्रावण, शुक्ल-पक्ष, तिथि-षष्ठी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:14, सूर्यास्त: 07:10। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 26 डी.सै., अधिकतम- 39+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

गर्मी में 'गुलकंद' खाने के अनेक फायदे, जानिए

गर्मी में 'गुलकंद' खाने के अनेक फायदे, जानिए  सरस्वती उपाध्याय  बेहद सुंदर और सुगंधित फूल 'गुलाब' गुणों की खान है और इसकी पं...