शनिवार, 2 मई 2020

1223 लोगों की मौत, 37776 संक्रमित

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस ‘कोविड-19′ संक्रमण के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही हैं और पिछले 24 घंटों के दौरान रिकॉर्ड 2411 नये मामले सामने आने के साथ ही देश में संक्रमितों की संख्या 38 हजार के करीब पहुंच गयी है तथा इसके कारण 71 और लोगों की मौत होने से मृतकों की तादाद 1223 हो गयी है। देश के 32 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना वायरस के अब तक कुल 37776 मामलों की पुष्टि हुई है जिनमें 111 विदेशी मरीज शामिल हैं। कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के स्वस्थ होने के मामलों में भी लगातार वृद्धि हो रही है और पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमित 953 लोगों के स्वस्थ होने के साथ ऐसे लोगों की संख्या 10 हजार को पार कर 10018 पहुंच चुकी है। देश में वर्तमान में 26535 सक्रिय मामले हैं।


स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शनिवार शाम जारी आंकड़ों के अनुसार कोरोना वायरस से सबसे अधिक गंभीर रूप से प्रभावित महाराष्ट्र में स्थिति में कोई सुधार हाेता नहीं दिख रहा है और पिछले एक दिन में 1006 नये मामलों के बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 11506 पर पहुंच गयी है और इस दौरान 26 और लोगों की मौत के बाद इस महामारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 485 हो गयी है। राज्य में 1879 संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं। पश्चिमी राज्य गुजरात पिछले 24 घंटों के दौरान 326 नये मामले सामने आने के साथ संक्रमितों की संख्या के मामलों में दूसरे स्थान पर बना हुआ है। गुजरात में संक्रमितों की कुल संख्या 4721 हो गयी है तथा 22 और लोगों की मौत के बाद मृतकों की संख्या 236 पर पहुंच गयी है। राज्य में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या भी बढ़कर 735 हो गयी है। इसके बाद देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली मेंं स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। पिछले 24 घंटाें में 223 नये मामले दर्ज किये जाने के कारण अब तक कुल 3738 लोग इस महामारी से संक्रमित हुए हैं। दिल्ली में दो और संक्रमितों की मौत के बाद मृतकों की संख्या 61 हो गयी है जबकि अब तक कुल 1167 मरीजों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।


कोरोना वायरस से गंभीर रूप से प्रभावित मध्य प्रदेश में पिछले 24 घंटों में संक्रमण का कोई नया मामला सामने नहीं आया है और संक्रमितों की संख्या 2719 पर ही बनी हुयी है जबकि मरने वालों की संख्या आठ बढ़कर 145 हो गयी है। राज्य में 524 मरीज भी ठीक हो चुके हैं। राजस्थान में पिछले 24 घंटों के दौरान 82 नये मामले सामने आये हैं और इनका आंकड़ा बढ़कर 2666 हो गया। राज्य में इस दौरान चार और मरीजों की मौत के बाद मरने वालों की संख्या 62 हो गयी हैं। राज्य में 1116 मरीज ठीक हुए हैं।


दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु में 203 नये संक्रमित सामने आये हैं और संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 2526 हो गई तथा राज्य में एक और व्यक्ति की मौत के मृतकों का आंकड़ा 28 हो गया है। राज्य में 1312 मरीज अब तक ठीक हुए हैं। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में संक्रमण के 174 नये मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमितों की संख्या 2455 हो गई है तथा मृतकों की संख्या दो बढ़कर 43 हो गयी है। राज्य में अभी तक 656 मरीजों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।


दक्षिणी राज्य आंध्र प्रदेश में 1525 और कर्नाटक में 598 लोग संक्रमित हैं तथा इन राज्यों में क्रमश: 33 और 25 लोगों की मौत हुई है। दक्षिणी राज्य तेलंगाना में संक्रमितों की कुल संख्या 1057 हो गयी और इससे मरने वालों की संख्या 26 पर बनी हुयी है। केरल में 498 लोग संक्रमित हुए हैं और चार लोगों की मौत हुई है। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में संक्रमितों की संख्या 639 है और आठ लोगों की मौत हुुई है। इसके अलावा पश्चिम बंगाल में 33, पंजाब में 20, बिहार, हरियाणा और झारखंड में तीन-तीन तथा मेघालय, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश और असम में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है।


चीन को सबक देंंगे 'लड़ाकू-विमान'

बीजिंग/ वाशिंगटन। चीन के वुहान शहर से दुनियाभर में फैले इस वायरस ने अपने आगे सभी शक्तिशाली देशों को नतमस्तक कर दिया है। कोई भी देश इस भयंकर बीमारी का इलाज नही बना पा रहा है। हर दिन सैंकड़ों की संख्या में लोग इस बीमारी के चलते अपनी जान दे रहे हैं। कोरोना के चलते सबसे ज्यादा महामारी अमेरिका में फैली है, जिसके चलते दोनों देशों में भी तकरार बढ़ता जा रहा है।


जानकारी के लिए बता दें अमेरिका में इस समय कोरोना के मरीजों की संख्या 10 लाख से पार हो चुकी हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीन को कई बार धमकी दे चुके हैं कि चीन इस वायरस के बारे में पूरी सच्चाई दुनिया को बताये।उन्होंने ये भी कहा है कि अगर चीन ने ये वायरस जानबूझकर फैलाया है तो फिर इसका अंजाम उसे भुगतना पड़ेगा।अमेरिका की एजेंसियां इसकी गहन जाँच कर रही है। इस वायरस के चलते चीन और अमेरिका के बीच सैन्य तनाव बढ़ता जा रहा है। इसी बीच एक बड़ी खबर आ रही है। इस समय की बड़ी खबर ये आ रही है कि चीन की नौसेना ने दावा किया है कि उसने साउथ चाइना सी में अमेरिका के एक जंगी जहाज को अपने इलाके से खदेड़ दिया है। जिस बात का सभी को अंदेशा हो रहा था अब वो शुरू हो गया है। चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी की सदर्न थिएटर कमान के प्रवक्ता सीनियर कर्नल ली हुआमिन ने कहा है कि चीन ने अमेरिका के गाइडेड मिसाइल विध्वंसक यूएसएस बैरी की टोह लेने के लिए समुद्री और हवाई बलों को मोर्चे पर लगाया, जिसके बाद अमेरिका के जंगी जहाज को बाहर खदेड़ दिया।


पाकः पेट्रोलियम की कीमतों में कटौती

पाकिस्तान सरकार ने पेट्रोलियम के उत्पादों की क़ीमत में भारी कटौती की घोषणा की है।


इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की पार्टी 'पाकिस्तान तहरीक़े इंसाफ़' ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया है कि 'अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमतें कम हो रही हैं, इसलिए पाकिस्तान सरकार ने मई महीने के लिए पेट्रोलियम उत्पादों की क़ीमत कम कर दी है ताकि आम लोगों को इससे कुछ लाभ मिल सके।


पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार बुधवार को देश की ऑयल एंड गैस रेग्युलेटरी अथॉरिटी (OGRA) ने पाकिस्तान के ऊर्जा मंत्रालय से यह अनुरोध किया था कि 'अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमतें कम हो रही हैं, इसलिए देश में भी तेल की क़ीमतें कम की जाएं। पाकिस्तान के ऊर्जा मंत्रालय के मुताबिक़ एक मई 2020 से देश में नई क़ीमतें लागू हो चुकी हैं जिसमें पेट्रोल पर 15 रुपए, हाई स्पीड डीजल पर 27.15 रुपए, मिट्टी के तेल पर 30 रुपए और लाइट डीजल ऑयल पर 15 रुपए कम किए गए हैं। यानी जो एक लीटर पेट्रोल पहले 96 रुपए का मिल रहा था, अब 81 रुपए लीटर हो गया है। वहीं हाई स्पीड डीजल की क़ीमत पहले 107 रुपए लीटर थी, जो अब घटकर 80 रुपए प्रति लीटर हो गई है।


श्रीलंकाः 27 क्षेत्र पूरी तरह 'प्रतिबंधित'

श्रीलंका में प्रभावित 27 क्षेत्र पूरी तरह प्रतिबंधित: अधिकारी


कोलंबो। श्रीलंका के अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वायरस के 31 मुख्यत: प्रभावित क्षेत्रों में से 27 को पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया गया हैं। इनमें कोविड-19 के सबसे बड़े क्लस्टर के रूप में उभरा नौसैन्य अड्डा भी शामिल है।


अधिकारियों ने बताया कि श्रीलंका में 665 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई, जिसमें से 140 लोग पूरी तरह ठीक हो गए हैं।साथ ही उन्होंने कहा कि 16 और लोगों में बृहस्पतिवार को संक्रमण की पुष्टि हुई, जिसमें नौ और नौसैन्य कर्मी शामिल थे। पुलिस उपमहानिरीक्षक अजित रोहना ने शुक्रवार को कहा, ‘स्वास्थ्य अधिकारियों ने करीब 31 प्रभावित क्षेत्रों की पहचान की है। इनमें से 27 पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की खुफिया सेवा की सूचना के मुताबिक, कोरोना वायरस के मरीज इन्हीं 31 प्रभावित क्षेत्र से हैं। डेली मिरर की खबर के मुताबिक, रोहना ने कहा कि जा-ऐला के सुदुवेल्ला का प्रभावित क्षेत्र अलग था और नशे के आदी लोग उस क्षेत्र में वायरस फैलने के पीछे मुख्य कारण हैं।श्रीलंका नौसैन्यकर्मी उस वक्त संक्रमित हुए जब उन्होंने नशेड़ियों के समूह की तलाश के लिए अभियान शुरू किया और उन्हें पकड़ कर पृथक-वास में भेज दिया। इसके अनुसार, उनसे करीब 226 नौसैन्यकर्मी और सेना के चार सैनिक संक्रमित हो गए। नौसैन्यकर्मियों के संक्रमित होने की जानकारी मिलने के बाद नौसेना की एक टुकड़ी को पूरी तरह बंद कर दिया गया। श्रीलंका में फिलहाल पूरी तरह लॉकडाउन लागू है और यहां चार मई तक कर्फ्यू लगा हुआ है।


सिंगापुरः घरों में रहने की अवधि बढी़

सिंगापुर ने विदेशी कामगारों के लिए घरों में रहने की अवधि बढ़ाई


सिंगापुर। सिंगापुर ने निर्माण क्षेत्र में भारतीयों समेत विदेशी कामगारों के लिए घरों में रहने की अवधि शुक्रवार को 18 मई तक के लिए बढ़ा दी। देश ने विदेशी कामगारों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ने पर यह कदम उठाया है।


स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि देश में संक्रमण के 932 नए मामले सामने आए हैं। नए मामलों में भारतीय नागरिक भी शामिल हैं। सिंगापुर में कोविड-19 के मरीजों की कुल संख्या 17,101 हो गई है। मंत्रालय ने बताया कि नए मामलों में बड़ी संख्या में विदेशी कामगारों के सामूहिक शयनकक्षों में रह रहे कामकाजी परमिटधारक शामिल हैं। इनमें से पांच मामले सिंगापुर के नागरिकों या विदेशी मूल के स्थायी निवासियों के हैं। श्रमशक्ति मंत्रालय ने बताया कि निर्माण क्षेत्र में ‘एस’ पासधारक (सभी विदेशियों) और कामकाज संबंधी परमिट वाले लोगों के लिए अनिवार्य रूप से घरों में रहने का आदेश 18 मई तक दो हफ्तों के लिए और बढ़ा दिया गया है। इससे पहले यह नोटिस चार मई तक के लिए था जिसे अब बढ़ाकर 18 मई तक के लिए कर दिया गया है। मंत्रालय ने बताया कि अधिकारी निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों के बीच संक्रमण पर करीबी नजर रख रहे हैं और वे जहां रह रहे हैं, उन इलाकों में आवाजाही पर पाबंदियां बरकरार रहेंगी। सिंगापुर सरकार कोविड-19 से संक्रमित उन प्रवासी कर्मचारियों के लिए, सबसे अधिक प्रभावित स्थानों पर सामुदायिक देखभाल केंद्र स्थापित कर रही है, जिनकी हालत ठीक हो गई है या उनमें हल्के लक्षण हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जांच में संक्रमण की पुष्टि के तुरंत बाद मरीजों को दूर के किसी अस्पताल में ले जाने के बजाय इंटर-एजेंसी टास्क फोर्स द्वारा स्थापित सामुदायिक देखभाल सुविधा केंद्र (सीसीएफ) में ले जाया जाएगा।


दक्षिण कोरियाः संक्रमण में लगातार कमी

दक्षिण कोरिया में संक्रमण के मामलों में लगातार आ रही कमी


सियोल। दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में लगातार कमी आ रही है। देश में इस महामारी के छह नए मामले सामने आए हैं और पिछले एक महीने से मामलों की संख्या 100 से नीचे नीचे रही है।


देश के सर्वाधिक प्रभावित दाएगू शहर में संक्रमण के मामलों का घटना लगातार जारी है जहां एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। दक्षिण कोरिया रोग नियंत्रण एवं बचाव केंद्र की ओर से शनिवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में संक्रमित लोगों की संख्या 10,780 है और वायरस से 250 लोगों की मौत हुई है। देश में कम से कम 1,081 मामलों को अंतरराष्ट्रीय आगमन से जुड़ा बताया गया है लेकिन हाल के कुछ हफ्तों में सरकार की ओर से सीमा नियंत्रण प्रक्रिया मजबूत किए जाने के बाद इन मामलों में भी कमी आई है। सरकार ने विदेशों से आने वाले सभी यात्रियों के लिए 14 दिन तक पृथक-वास में रहना अनिवार्य कर दिया है। मामलों की संख्या घटने के साथ, सरकारी अधिकारी भौतिक दूरी बनाकर रखने संबंधी निर्देशों में राहत दे रहे हैं और अब पूरा ध्यान अर्थव्यवस्था को नुकसान से उबारने की तरफ दिया जा रहा है।


रूसः तेज वृद्धि, प्रधानमंत्री संक्रमित

रूस में मामलों में तेज वृद्धि हुई, प्रधानमंत्री भी संक्रमित


मॉस्को। रूस में शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण के करीब 8,000 नये मामले सामने आए, जिससे देश में कोविड-19 के कुल मामले बढ़कर 1,14,431 हो गए हैं।


इस देश में अब तक 1,169 लोगों की मौत हो चुकी है। इन मामलों की संख्या और अधिक होने की संभावना है क्योंकि हर किसी की जांच नहीं हो पा रही है और रूस में जांच रिपोर्ट केवल 70 से 80 फीसदी ही सटीक आ रही है।वहीं, प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्तीन ने बृहस्पतिवार को घोषणा की थी कि उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है और वह फिलहाल मंत्रिमंडल की बैठकों से दूर रहेंगे। स्वास्थ्य अधिकारियों ने रूस के पांच क्षेत्रों में निमोनिया के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई है. कोविड-19 संक्रमण के आधे मामले मॉस्को से है। जन स्वास्थ्य एजेंसी ‘रोसपोट्रेनाजोर’ के मुताबिक मॉस्को में श्वसन संबंधी सभी संक्रमण कोरोना वायरस के कारण होने की संभावना है।


लंदन: मृतक-1212 संक्रमित-37,336

लंदन। देश में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर शनिवार को 1,218 हो गई और संक्रमण के मामलों की संख्या बढ़कर 37,336 तक पहुंच गई है.


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में अभी इस महामारी से संक्रमित 26,167 मरीजों का इलाज चल रहा है और 9,950 लोग स्वस्थ हो गए हैं। एक मरीज देश से बाहर चला गया है। इन मामलों में कुल 111 विदेशी नागरिक शामिल हैं। इस वायरस से शुक्रवार की शाम से हुईं मौतों के मामलों में महाराष्ट्र से 26, गुजरात से 22, मध्य प्रदेश से आठ, राजस्थान से चार, दिल्ली से दो और उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा और तमिलनाडु से एक-एक मामला शामिल है। इस वायरस से सबसे अधिक 485 लोगों की मौत महाराष्ट्र में हुई है. इसके बाद गुजरात में 236, मध्य प्रदेश में 145, राजस्थान में 62, दिल्ली में 61, उत्तर प्रदेश में 42 और पश्चिम बंगाल तथा आंध्र प्रदेश में 33-33 लोगों की मौत हुई है। तमिलनाडु में मृतकों की संख्या 26 है जबकि कर्नाटक में इस महामारी से 22 मरीजों की मौत हुई है। पंजाब में 19 लोगों को इस महामारी से जान गंवानी पड़ी है, जबकि जम्मू कश्मीर में आठ, केरल तथा हरियाणा में चार-चार तथा झारखंड और बिहार में तीन-तीन लोगों की मौत हुई है। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार मेघालय, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा और असम में एक-एक मरीज की मौत हुई है।स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में सबसे अधिक 11,506 मामले महाराष्ट्र में सामने आए हैं। इसके बाद गुजरात में 4,721, दिल्ली में 3,738 और मध्य प्रदेश में 2,719 मामले हैं। राजस्थान में 2,666 मामले सामने आए हैं। तमिलनाडु में 2,526 और उत्तर प्रदेश में 2,328 मामले हैं। आंध्र प्रदेश में कोविड-19 के मामलों की संख्या 1,463 है जबकि तेलंगाना में 1,039 मामले हैं। पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 795, जम्मू कश्मीर में 639, कर्नाटक में 589, केरल में 497, पंजाब में 480 और बिहार में 471 है। हरियाणा में 360 मामले और ओडिशा में 149 मामले सामने आए हैं। झारखंड में वायरस से 111 लोग और चंडीगढ़ में 88 लोग संक्रमित हुए हैं। उत्तराखंड में 58 मामले सामने आए हैं।असम और छत्तीसगढ़ में 43-43 जबकि हिमाचल प्रदेश में 40 लोग संक्रमित हैं। अंडमान निकोबार द्वीप समूह में कोविड-19 के 33 मामले जबकि लद्दाख में 22 मामले हैं. मेघालय में इस वायरस से 12, पुडुचेचरी में आठ जबकि गोवा में सात लोग संक्रमित हैं।मणिपुर और त्रिपुरा में दो-दो मामले, मिजोरम और अरुणाचल प्रदेश में एक-एक मामला सामने आया है।


रक्षा मंत्री ने सुरक्षा समीक्षा बैठक की

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नई दिल्ली में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) और तीनों सेनाओं के प्रमुखों के साथ कोरोना से देश में उपजे हालात की समीक्षा करने के लिए बैठक की। उसके बाद प्रेसवार्ता में जनरल बिपिन रावत ने कोरोना वारियर्स के प्रति आभार जताते हुए कहा कि पूरी दुनिया कोविड-19 के खतरे से लड़ रही है। बाकी सभी देशों की तरह हमारे देश पर भी इसका व्यापक असर पड़ा है। हमारे पुलिसकर्मी बहुत अच्छे से अपना काम कर रहे हैं और वे रेड जोन में तैनात हैं। वे लाल क्षेत्रों में भी कार्रवाई करने में सक्षम हैं। अब तक सैन्य तैनाती के लिए कोई आवश्यकता महसूस नहीं की गई है।
जनरल बिपिन रावत ने नाक का एक छिद्र बंद करके प्रदर्शित किया कि जब नाक का एक मार्ग अवरुद्ध होता है तो कोरोना वायरस नाक के जरिए शरीर में प्रवेश नहीं कर सकता है। उन्होंने कहा कि हम सशस्त्र बलों की ओर से सभी कोरोना वॉरियर्स को धन्यवाद देना चाहते हैं। डॉक्टर, नर्स, स्वच्छता कर्मचारी, पुलिस, होमगार्ड, डिलीवरी बॉय और मीडियाकर्मी मुश्किल समय में आगे बढ़ने के लिए सरकार के संदेश के साथ लोगों तक पहुंच रहे हैं।


यूपीः सरकारी कार्यालयों में दीप जलाएं

लखनऊ। इप्सेफ के आहवान पर महंगाई भत्ते की तीन किस्तों की रोक,नई पेंशन योजना में सरकारी अंशदान में 4% की कटौती,नगर प्रतिकर भत्ता सहित 6-भत्ते समाप्त किए जाने जीपीएफ ब्याज दर में 0.8% की कटौती से नाराज कार्मिकों ने राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के नेतृत्व में  लखनऊ में मजदूर दिवस पर दोपहर 12:00 बजे अपने कार्यालयों और जो कर्मी आवास पर थे। वह अपने आवास पर मोमबत्ती जलाकर मजदूर दिवस पर विरोध जताया। सभी राजकीय कार्मिको ने शाम को 7:00 बजे अपने-अपने घरों पर भी दीप जलाया।


परिषद के लखनऊ शाखा के अध्यक्ष सुभाष श्रीवास्तव ने बताया कि सिविल अस्पताल में इप्सेफ प्रवक्ता सुनील यादव, राजकीय फार्मासिस्ट महासंघ के जिला सचिव जीसी दुबे, प्रभारी अधिकारी एएन द्विवेदी,चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संघ के अध्यक्ष महेंद्र पांडे, जिला सचिव राजेंद्र दुबे, संविदा कर्मचारी संघ के धीरज रावत, जावेद हुसैन आदि के नेतृत्व में मोमबत्ती जलाई गई।


लोहिया संस्थान में अमित कुमार, लोहिया चिकित्सालय में डी जी त्रिपाठी, राम मनोहर कुशवाहा , ए पी सिंह, बलरामपुर अस्पताल में इप्सेफ के राष्ट्रीय सचिव अतुल मिश्रा, उपाध्यक्ष के के सचान, अशोक कुमार, केजीएमयू में राजन यादव, प्रदीप गंगवार, प्रिया यादव, वन विभाग मुख्यालय में आशीष पांडे, पी के सिंह, नगर निगम मुख्यालय में शशि मिश्रा आदि के नेतृत्व में मोमबत्ती जलाकर विरोध दर्ज कराया गया। परिषद की लखनऊ शाखा द्वारा कर्मचारियों के विरोध से अवगत कराने हेतु माननीय प्रधानमंत्री, माननीय मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा गया है।मोमबत्ती जलाकर कर्मचारियों ने 1886 के मजदूर आंदोलन में शामिल मजदूरों,शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई और देश में इस संक्रमण काल में कार्य कर कोरोना सैनिकों का सम्मान भी किया गया।


पत्रकारों के हित में सीएम से मुलाकात

 देहरादून। पत्रकारों की समस्या को लेकर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात हुई और उन्हें पत्रकारों की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया गया। मुख्यमंत्री द्वारा आश्वस्त किया गया है कि पत्रकार कल्याण कोष से जो भी सहयोग हो पाएगा, उसके लिए प्रयास किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि पत्रकार कल्याण कोष में उपयुक्त मात्रा में धन है। जोकि पत्रकारों के हित में इस्तेमाल किया जा सकता है। इस संदर्भ में विश्वजीत नेगी अध्यक्ष उत्तराखंड स्टेट प्रेस क्लब महामंत्री आशुतोष डिमरी कैलाश जोशी अकेला साथ ही मनीष नयाल मौजूद थे।


आर्थिक विशेषज्ञ समिति गठित करें

विजयेन्द्र दत्त गौतम


शिमला। कांग्रेस के बरिष्ठ नेता पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने प्रदेश में राष्ट्रव्यापी कोरोना माहमारी के चलते लॉक डाउन से उत्पन्न लोगों की समस्याओं और उनके निदान बारे मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को एक विस्तृत पत्र लिखा है।उन्होंने लिखा है कि कांग्रेस की मुख्य विपक्षी दल होने के नाते प्रदेश व लोगों की समस्याओं  को सरकार के समक्ष रखने की उनकी नैतिक जिम्मेदारी है।उनका कहना है कि देश व प्रदेश आज जिस गंभीर चुनौती से गुज़र रहा है,उससे उभरने के लिए कांग्रेस मजबूती से सरकार का साथ दे रही है।जनहित में कांग्रेस के सुझावों पर सरकार को गंभीरता से विचार कर इस पर शुद्ध मन से कांग्रेस के सुझावों पर एक बृहद कार्ययोजना बना कर कार्य शुरु कर देना चाहिए।


कांग्रेस विधायक दल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा प्रतिपक्ष नेता मुकेश अग्निहोत्री की अध्यक्षता में एक समीक्षा बैठक का आयोजन किया ,जिसमें प्रदेश के ताजा हालात पर बड़ी गम्भीरता से व्यापक विचार विमर्श करते हुए कांग्रेस विद्यायकों की चिंताओ को सरकार के समक्ष रखने का निर्णय लिया गया।यह पत्र कांग्रेस के बरिष्ठ नेता पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की मार्फ़त भेजा गया है।


वीरभद्र सिंह ने पत्र में लिखा है कि 22 मार्च से प्रदेश में लॉक डाउन की बजह से सभी प्रकार की वाणिज्यिक,ब्यवसाईक गतिविधियों के साथ साथ कृषि, बागवानी पर इसका व्यापक बुरा असर पड़ा है।आम आदमी का जीवन भी बहुत प्रभावित हुआ है।प्रदेश की सभी स्वास्थ्य, शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाएं अस्त व्यस्त होकर रह गई है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस विधायक चाहते है कि प्रदेश सरकार एक उच्च स्तरीय ऐसी आर्थिक विशेषज्ञ समिति का गठन करें जो प्रदेश लॉक डाउन के दौरान हुए नुकसान का जायजा लेकर अपनी एक्सपर्ट राय देते हुए प्रदेश को इससे उभरने की कोई ठोस रणनीति का प्रस्ताव प्रस्तुत करें, जिससे प्रदेश की विगड़ती वित्तीय स्थिति में सुधार हो सकें। पत्र में सरकार का कई बिदुओं पर ध्यान केंद्रित करते हुए प्रदेश में बेमौसमी वारिश और ओलावृष्टि से हुए फसलों के नुकसान पर भी चिंता व्यक्त की गई है। उन्होंने किसानों बागवानों को तुरन्त कोई राहत देने ,सब्जी उत्पादकों को न्यूनतम समर्थन मूल्य का भुगतान करने को भी कहा है जिनकी सब्जियां या तो बाजार बंद होने या ट्रांस्पोर्टन्सन न होने से खराब हो गई या फिर बेमौसमी वर्षा या ओलावृष्टि से।


उन्होंने कहा कहा कि आम,लीची,चेरि ,आड़ू,पलम,खुमानी जैसे अनेक  फलों की फसल भी आज चौपट हो चुकी है,इन्हें भी राहत के साथ कोई आर्थिक पैकेज दिया जाना चाहिए।पत्र में कहा गया है कि सेब प्रदेश की आर्थिकी का एक बड़ा महत्वपूर्ण क्षेत्र है।कोरोना और लॉक डाउन से बाजार की व्यवस्था अस्त व्यस्त होने की बजह से लादानी और आढ़तियों के इस बार यहां आने की कम ही संभावना है। इसलिए प्रदेश सरकार को एचपीएमसी और हिम्फेड से सेब खरीद कर उन्हें विपणन करने की पूरी व्यवस्था करनी चाहिए।इसके लिए कार्टन बॉक्स,ट्रे आदि की व्यवस्था भी अभी से की जानी चाहिए।


पत्र में बिज़नेस,टूरिज्म और इंडस्ट्रीज के बिगड़े हालत पर भी चिंता प्रकट करते हुए इनके विजली,पानी के बिल घरेलू मूल्य के आधार पर लेने को कहा गया है।साथ ही उन ब्यवसाइयों को जिन्होंने बेको से लोन आदि ले रखा है उनकी ईएमआई एक साल के लिए स्थगित करने,इसी के साथ पर्यटन और उद्योगों में लगे कर्मचारियों के  6 माह तक का बेतनसरकारी कोष से करने को कहा है,क्योंकि यह सब पिछले एक माह से अधिक समय से बंद पड़े है,और अभी आगे भी ऐसी ही ऐसी ही स्थिति बने रहने की आशंका है,इसलिए  इन्हें इनके प्रोपर्टी टेक्स में मार्च से छूट देनेऔर एलपीजी गैस कमर्सिअल से घरेलू दरों में प्रदान करने के साथ नगर निगम के 30 प्रतिशत सेस को कम करने को भी कहा है।


पत्र में कहा गया है कि प्रदेश की भूगोलिक स्थितियों को देखते हुए  ऑनलाइन शिक्षा में दूर दराज के क्षेत्रों में छात्रों के पास स्मार्टफोन का न होना और साथ मे नेटवर्क की समस्या एक बड़ी दिक्कत हो सकती है। पत्र में निजी स्कूलों के अध्यापकों और स्टाफ को लॉक डाउन अवधि के बेतन का भुगतान सरकार को ही करना चाहिए, क्योंकि सरकार ने इन संस्थानों से इस दौरान की बच्चों से फीस न लेने को कहा है। पत्र में कोरोना माहमारी से रक्षा के लिए पर्याप्त मात्रा में टेस्टिंग किट के साथ साथ मास्क,सेनेटाइजर, पीपीई और बेसिक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने को भी कहा गया है। पत्र में बेरोजगारी की बढ़ती समस्या को देखते हुए मनरेगा के तहत कम से कम 200 दिनों का कार्य अर्जित करने की बात कही गई है।उद्योगिक क्षेत्र में काम बंद होने से हजारों कामगार बेरोजगार हो गए है,इसलिए सरकार को इन्हें बेरोजगारी भत्ता देना चाहिए। पत्र में प्रदेश की विगड़ी अर्थव्यवस्था पर भी गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा गया है कि लॉक डाउन की बजह से सरकार के राजकीय कोष में एक्ससाइज व अन्य टैक्स न मिलने से सरकारी खर्च चलाना भी मुश्किल हो सकता है।इसलिए प्रदेश सरकार को केंद्र से इस नुकसान की भरपाई के लिए कोई विशेष आर्थिक पैकेज की मांग करनी चाहिए।पत्र में प्रदेश के वह लोग जो लॉक डाउन की बजह से अन्य राज्यों में फंसे पड़े है,उन्हें पूरे स्वास्थ्य प्रोटोकॉल के तहत लाने की कोई सरकारी व्यवस्था की जानी चाहिए।


वीरभद्र सिंह से कहा है कि विपक्षी दल होने के नाते कांग्रेस ने इस आपदा के समय एकजुटता सेअपनी सकरात्मक भूमिका निभाई है।उनका कहना है कि जनहित में कांग्रेस के इन सुझावों पर कार्य करना चाहिए,जिससे प्रदेश के लोगों को इस कठनाई के समय कोई राहत  मिल सकें। वीरभद्र सिंह ने कहा है कि उनके लंबे 58 साल के राजनैतिक कॉल में उन्होंने पहली बार ऐसी कोई माहमारी की आपदा देखी,पर देश के सभी राजनैतिक दलों, प्रवुद्ध और आम लोगों ने जिस प्रकार से इसके खिलाफ लड़ने में अपनी सहभागिता दी है,उससे साफ है कि हम जल्द ही इस माहमारी के प्रकोप से बाहर निकलेंगे।


आवाजाही के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त

विजयेंद्र दत्त गौतम


शिमला। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि कोविड-19महामारी के कारण बड़ी संख्या में हिमाचली छात्र, यात्री, तीर्थयात्री, व्यावसायिक व्यक्ति विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फंसे हुए हैं। इसी तरह बाहरी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के छात्र, पर्यटक, व्यापारिक यात्री व औद्योगिक श्रमिक हिमाचल प्रदेश के विभिन्न भागों में रह रहे हैं और अपने संबंधित मूल राज्यों में वापस जाने के इच्छुक हैं।


भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने राज्य सीमाओं पर लोगों को आवाजाही की अनुमति दी है, इसलिए जनहित में हिमाचल प्रदेश और अन्य राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों के बीच लोगों के सुचारू, सुव्यवस्थित और क्रमबद्ध रवानगी को सुनिश्चित करने के लिए संबंधित राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों के साथ समन्वय की आवश्यकता है।


उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश सरकार में प्रधान सचिव राजस्व तथा आपदा प्रबन्ध ओंकार चंद शर्मा को स्टेट नोडल अधिकारी और निदेशक पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन एवं प्रबन्ध निदेशक एचआरटीसी यूनुस को इस कार्य के लिए राज्य संयुक्त नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया गया है। इस सम्बन्ध में राज्य नोडल अधिकारी से मोबाइल नंबर 94182-30009 और राज्य संयुक्त नोडल अधिकारी से मोबाइल नंबर 88940-35375 पर संपर्क किया जा सकता है।


उन्होंने कहा कि अन्य अधिकारियों को अंतरराज्यीय आवाजाही, प्रोटोकाॅल तैयार करने और सार्वजनिक परिवहन सुविधाओं या निजी वाहनों का उपयोग करके अन्य राज्यों, केन्द्र शासित प्रदेशों तथा जिला प्रशासन के साथ समन्वय कर आवाजाही को सुनिश्चित करने के लिए प्राप्त अनुरोधों से संबंधित डाटा एकत्र करने और इसे संकलित करने के लिए नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया गया है। राज्य नोडल अधिकारी तथा संयुक्त नोडल अधिकारी के समग्र पर्यवेक्षण और मार्गदर्शन में अन्य अधिकारी, राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों, जिला प्रशासन, श्रम और रोजगार, उद्योग, गृह, परिवहन, एचआरटीसी आदि विभागों के अधिकारियों के साथ कार्य करेंगे।


उन्होंने कहा सचिव सूचना एवं जन सम्पर्क और शहरी विकास रजनीश को हरियाणा, नई दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिए नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया गया है। इसके अलावा  सचिव फाईनांस और हाउसिंग अक्षय सूद को तमिलनाडू, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख, सचिव आयुर्वेद जी.के. श्रीवास्तव को उतर प्रदेश, बिहार, उतराखंड, झारखंड और छतीसगढ़, निदेशक उर्जा मनासी सहाय ठाकुर को महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, गोवा, लक्ष्यद्वीप, अंडमान-निकोबार द्वीप और पुडुचेरी, निदेशक ग्रामीण विकास और पंचायती राज ललित जैन को  पंजाब, चंडीगढ़ और मोहाली, विशेष सचिव एमपीपी और पावर हेमराज बैरवा को राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश,  निदेशक पर्सनल और वित एचपीपीसीएल मनमोहन शर्मा को असम, मिजोरम, अरूणाचल प्रदेश, मणिपुर नागालैंड़, त्रिपुरा और मेघालय तथा निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा रोहित जम्वाल को पश्चिम बंगाल, उडीसा और सिक्किम के लिए नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया गया है।


ओडिशा के फंसे 40 मजदूर किए रवाना

जगदलपुर। जिले के दरभा क्षेत्र में करीब एक महीने से फंसे ओडिसा के 40 मजदूरों को वापस बस के माध्यम से आज ओडिसा भेजा गया। ओडिसा के 40 मजदूर दरभा में तालाब निर्माण का कार्य कर रहे थे, इस दौरान लॉकडाउन हो जाने से मजदूर बीते एक महीने के यहां फंसे हुए थे। प्रशासन की पहल पर उन्हें ओडिसा रवाना किया गया। अपने घर जाने से मजदूर काफी खुश नजर आ रहे थे।


राज्य में 10 नहीं 4 रेड जोनः ममता

पश्चिम बंगाल में 10 नहीं, 4 रेड जोन, किया गया गलत आकलन
ममता सरकार ने जताया विरोध.
कोलकाता। पश्चिम बंगाल सरकार (West bengal) ने शुक्रवार को केंद्र को पत्र लिख कर जोर देते हुए कहा कि राज्य में 10 नहीं, बल्कि चार ही जिले ‘रेड जोन’ (Red zone) हैं. इसको लेकर अब भाजपा और तृणमूल कांग्रेस TMC के बीच ताजा वाकयुद्ध छिड़ गया। दरअसल, राज्यों के प्रतिनिधियों के साथ कैबिनेट सचिव की वीडियो कांफ्रेंस के दौरान प्रस्तुत की गई सूची में राज्य में 10 ‘रेड जोन’ होने का केंद्र सरकार ने जिक्र किया था। स्वास्थ्य विभाग में प्रधान सचिव विवेक कुमार ने केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को लिखे अपने पत्र में इस सूची को ‘‘एक गलत आकलन’’ करार दिया है. उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने केंद्र द्वारा निर्धारित मानदंडों को ध्यान में रखते हुए चार ‘रेड जोन’ –कोलकाता, हावड़ा, उत्तर 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर–घोषित किया है।


ये हैं रेड जोन में जिले


कुमार ने पत्र में ‘‘रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन’ वाले राज्य के जिलों और इलाकों का सही वर्गीकरण’’ भी संलग्न किया है। उन्होंने कहा कि बंगाल में अभी आठ जिले ‘ग्रीन जोन’ में हैं जबकि 11 जिले ‘ऑरेंज जोन’ में हैं। मंत्रालय के मुताबिक बंगाल के 10 जिले–कोलकाता, हावड़ा, उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना, पश्चिमी मिदनापुर, पूर्वी मिदनापुर, दार्जीलिंग, जलपाईगुड़ी, कलीमपोंग और मालदा– ‘रेड जोन’ में हैं। इस वर्गीकरण की घोषणा कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में 30 अप्रैल को मुख्य सचिवों और स्वास्थ्य सचिवों के साथ हुई एक वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान की गई थी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की सूची पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, तृणमूल नेतृत्व ने कहा कि यह राज्य सरकार को बदनाम करने की कोशिश है।


वरिष्ठ टीएमसी नेता और राज्यसभा सांसद सांतनु सेन ने कहा, ‘‘भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार का एकमात्र उद्देश्य बंगाल को बदनाम करना है और महामारी से निपटने के लिए उसके प्रयास में बाधा पहुंचाना है। केंद्र, राज्य सरकार की सहमति लिए बिना, 10 जिलों को कैसे हॉटस्पॉट घोषित कर सकता है? यह और कुछ नहीं बल्कि संघीय ढांचे का उल्लंघन है।’ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने इन आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि कोविड-19 स्थिति पर बंगाल सरकार का झूठ हर दिन उजागर हो रहा है।


उन्होंने कहा, राज्य सरकार, बहुत शुरुआत से, कोविड-19 स्थिति के बारे में झूठ बोल रही है। आंकड़ों को छिपाने के इस रवैये ने बंगाल को गंभीर चरण में पहुंचा दिया है। अगर राज्य सरकार शुरू से ही महामारी से निपटने के लिए गंभीर होती, तो अभी बहुत बेहतर होतां’। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड-19 के मामलों, संक्रमण के मामले दोगुना होने की दर, जांच का दायरा और निगरानी से जुड़े विवरण के आधार पर देश में 130 जिलों को ‘रेड जोन’ में, 284 ‘ऑरेंज जोन’ में और 319 ‘ग्रीन जोन’ में रखा है।


सीएम बघेल ने रेल मंत्री को पत्र लिखा

छत्तीसगढ़ के 1.17 लाख से अधिक प्रवासी कामगार देश के 21 राज्यों और 4 केन्द्र शासित प्रदेशों में फंसे होने की जानकारी


रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने रेल मंत्री श्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर उनसे छत्तीसगढ़ के प्रवासी श्रमिकों की वापसी के लिए देश के विभिन्न शहरों से 28 ट्रेनों के संचालन का अनुरोध किया है। श्री बघेल ने भारत सरकार द्वारा फंसे हुए मजदूरों की उनके घर तक वापसी के लिए ट्रेनों के संचालन के निर्णय का स्वागत करते हुए मानवीय आधार पर रेल्वे  द्वारा ट्रेनों के संचालन की निःशुल्क व्यवस्था करने और ट्रेनों के संचालन के लिए जल्द से जल्द तारीख और समय तय करने का आग्रह किया है।  
मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में लिखा है कि देश भर में पिछले कुछ दिनों में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई तेज हो गई है। छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा भी कोविड-19 का बहादुरी से मुकाबला किया जा रहा है। हमने अपने राज्य में इस महामारी के संक्रमण को रोकने में काफी हद तक सफलता पायी है। इस समय छत्तीसगढ़ के बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे हुए हैं। हेल्पलाइन और अन्य माध्यमों से प्राप्त सूचना के अनुसार लगभग 1.17 लाख से भी अधिक प्रवासी कामगार देश के 21 राज्यों और 4 केन्द्र शासित प्रदेशों में फंसे होने की जानकारी है। परिवहन की प्रक्रिया शुरू होने के बाद संख्या बढ़ सकती है। यदि प्रवासी श्रमिकों के अलावा अन्य लोगों जैसे छात्र, पर्यटक आदि को जोड़ते हैं तो यह संख्या बहुत बड़ी होगी। 
श्री बघेल ने कहा कि भारत सरकार के द्वारा फंसे हुए मजदूरों की उनके घर तक वापसी के लिए ट्रेनों के संचालन के निर्णय का स्वागत करता हूं। इस संदर्भ में आपके संज्ञान में लाना चाहूंगा कि हमारे प्रशासनिक तंत्र को विभिन्न राज्यों के साथ समन्वय स्थापित करने और फंसे हुए लोगों और विशेष रूप से फंसे हुए श्रमिकों के सुरक्षित आवागमन के लिए योजना बनाने के लिए निर्देशित किया है। देश भर में फंसे हुए लोगों के लिए जो ट्रेने विशेष रूप से संचालित की जा रही हैं, उसे फंसे हुए मजदूरों और व्यापक लाॅकडाउन से प्रभावित लोगों को बिना किसी परेशानी के आगे की यात्रा के लिए निःशुल्क संचालित की जानी चाहिए। रेल्वे बोर्ड के द्वारा एक मई को जारी पत्र के अनुसार स्लीपर मेल एवं एक्सप्रेस ट्रेन के लिए शुल्क निर्धारित किया गया है, जो कि उचित नहीं है क्यांेकि सभी प्रवासी श्रमिक लाॅकडाउन के कारण फंसे हुए हैं और पीड़ित हैं। मानवीय आधार पर रेल्वेे द्वारा निःशुल्क व्यवस्था की जानी चाहिए। इस संबंध में आपसे अनुरोध करता हूं कि प्रदेश के प्रवासी श्रमिकों एवं नागरिकों की वापसी हेतु पर्याप्त संख्या में ट्रेनों का संचालन करने का कष्ट करें। 
श्री बघेल ने जम्मू से रायपुर-बिलासपुर 7 ट्रेनें, लखनऊ से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, कानपुर से रायपुर-बिलासपुर 2 ट्रेनें, चेन्नई से रायपुर-बिलासपुर 1 ट्रेन, बंगलौर से रायपुर-बिलासपुर 1 ट्रेन, पुणे से रायपुर-बिलासपुर 2 ट्रेनें, इलाहाबाद से बिलासपुर 1 ट्रेन, दिल्ली से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, हैदराबाद-सिकंदराबाद से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, विशाखापट्नम से रायपुर 1 ट्रेन, सूरत-अहमदाबाद से रायपुर 1 ट्रेन, कोलकाता से रायपुर 1 ट्रेन, जयपुर से रायपुर 1 ट्रेन, पटना से दुर्ग 1 ट्रेन के संचालन का आग्रह किया है।


पंजाब में बढ़ेगी औसतन टेस्टिंग क्षमताए

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। पंजाब में 15 मई तक रोजाना के 6000 टेस्ट करने का लक्ष्य स्वास्थ्य विभाग को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दिया है। मुख्यमंत्री ने यह भी स्पष्ट किया है कि जिस तरह से बाहर से जो लोग पंजाब आ रहे हैं उन्हें कोरोना पॉजीटिव मरीजों की पुष्टि हो रही है इस वजह से किसी भी तरह का रिस्क न लेते हुए सभी के टेस्ट करने के आदेश जारी किए गए हैं साथ ही उन्होंने शंका भी जाहिर की है कि जो बाहरी राज्यों से लोग आ रहे हैं उनकी टेस्ट रिपोर्ट को न रखते हुए खुद टाइपिंग की जाए।


जालंधर में टेस्टिंग की सुविधा बनाने के लिए पंजाब सरकार की तरफ से 1 करोड़ जारी करने की भी आदेश जारी किए गए हैं जिसको लेकर बाबा फरीद यूनिवर्सिटी के चांसलर के साथ भी सरकार की तरफ से बात की गई है। पंजाब सरकार की तरफ से एक बार फिर से जेल में बंद कैदियों को राहत दी गई है जो कि लॉकडाउन के समय से ही पैरोल पर बाहर हैं अब उनकी पैरोल की अवधि 16 हफ्तों से ज्यादा कर दी गई है पर यह भी शर्त रखी गई है कि उनकी सजा 7 साल से कम होनी चाहिए।


पंजाब सरकार की तरफ से कैबिनेट के बीच यह भी फैसला किया गया है कि आउटसोर्सिंग के जरिए मेडिकल स्टाफ की भर्ती की जाए जिसमें कि पटियाला, अमृतसर, फरीदकोट के मेडिकल कॉलेज शामिल है वहीं यह भी स्पष्ट किया गया है कि यह भर्ती 6 महीने के लिए होगी।


कड़ी शर्तों के साथ गतिविधियां शुरू होंगी

अब 17 मई तक बड़ा लोक डाउन


कड़ी शर्तों के साथ कुछ और गतिविधियां होंगी शुरू : उपायुक्त 


देह से 2 गज की दूरी जरूरी


नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने 3 मई को खत्म होने वाले लॉक डाउन को अब 17 मई तक बढ़ा दिया है। ग्रीन जोन में होने के कारण महेंद्रगढ़ जिले में कुछ और गतिविधियां शुरू करने की अनुमति दी गई है। कोविड-19 का खतरा अभी बरकरार है। ऐसे में इन सभी गतिविधियों को शुरू करते समय सभी को कड़ी शर्तों का पालन करना होगा। सोशल डिस्टेंसिंग के नियम उसी तरह कड़ाई से लागू रहेंगे। यानी एक दूसरे से दो गज की दूरी बनाए रखना जरूरी होगा।


यह जानकारी देते हुए उपायुक्त जगदीश शर्मा ने बताया कि कुछ और गतिविधियों की छूट देने का यह मतलब कतई नहीं है कि लोग सड़कों पर घूमने लगें। बहुत जरूरी होने पर ही लोगों को घर से बाहर निकलना है। सभी को सोशल डिस्टेंसिंग की पालना सुनिश्चित करनी होगी। जिला में 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे तथा 65 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों को घर से बाहर निकलने पर पाबंदी रहेगी।


सार्वजनिक स्थल पर यह है निर्देश :-


1. सभी सार्वजनिक स्थानों पर फेस कवर पहनना अनिवार्य है। 


2. सभी प्रभारी को स्वास्थ्य और परिवार मंत्रालय द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों के अनुसार सामाजिक दूरी सुनिश्चित करवानी होगी। 


3. कोई भी संगठन व प्रबंधक 5 या अधिक व्यक्तियों के एकत्रित होने की अनुमति नहीं देगा।  


4. विवाह संबंधी समारोहों में सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जाएगी और मेहमानों की अधिकतम संख्या 50 से अधिक नहीं होगी। 


5. अंतिम संस्कार में सामाजिक दूरी सुनिश्चित हो और अधिकतम संख्या 20 से अधिक नहीं होगी।


 6. सार्वजनिक स्थानों पर थूकना दंडनीय होगा। इसमें आर्थिक दंड व सजा दोनों हो सकती हैं।


7. सार्वजनिक स्थानों पर शराब, पान, गुटका, तंबाकू आदि का सेवन करने की अनुमति नहीं है।


 8. शराब, पान, गुटका, तम्बाकू आदि बेचने वाली दुकानें एक-दूसरे से न्यूनतम छह फीट की दूरी सुनिश्चित होनी चाहिए। यह भी सुनिश्चित करेंगे कि दुकान पर एक बार में 5 से अधिक व्यक्ति मौजूद न हों।  


कार्यस्थल के लिए हैं यह निर्देश :-



1. कार्य स्थलों पर फेस कवर पहनना अनिवार्य है और ऐसे फेस कवर का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध कराया जाएगा।


2. कार्य स्थलों के प्रभारी स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों के अनुसार कार्य स्थानों के भीतर और परिवहन के दौरान सामाजिक अंतर सुनिश्चित करेंगे।  


3. कार्यस्थलों पर पारियों के बीच पर्याप्त अंतराल के माध्यम से सामाजिक दूरी को सुनिश्चित किया जाएगा। कर्मचारियों के दोपहर के भोजन के ब्रेक को बढ़ाया जाएगा। 


4. थर्मल स्कैनिंग, हैंड वॉश और सैनिटाइजर के लिए  स्पर्श मुक्त तंत्र के साथ सभी प्रवेश और निकास द्वार पर लगाया जाएगा। इसके अलावा, कार्य स्थल में पर्याप्त मात्रा में हैंडवाश और सैनिटाइजर उपलब्ध कराया जाएगा।


5. संपूर्ण कार्यस्थल व जन सुविधाओं और मानव संपर्क में आने वाले सभी बिंदुओं का लगातार सेनीटाइज किया जाए।


6. स्वास्थ्य उद्देश्यों को छोड़कर 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति, बीमार व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं और 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे घर पर रहेंगे। 


7. आरोग्य सेतु ऐप का उपयोग निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के सभी कर्मचारियों के लिए अनिवार्य होगा। कर्मचारियों के बीच इस ऐप की 100 फीसदी कवरेज को सुनिश्चित करने के लिए संबंधित संगठनों के प्रमुख की जिम्मेदारी होगी।


 8. बड़ी बैठकों से बचा जाए। 


9. संबंधित प्रबंधक के पास आसपास के उन सभी मेडिकल की सूची होनी चाहिए जो कोविड-19 के अधिकृत हैं। साथ ही कर्मचारी को अलग-थलग रखने की व्यवस्था और मेडिकल तक पहुंचाने की व्यवस्था होनी चाहिए


10. अगर कहीं सार्वजनिक वाहन व व्यक्तिगत वाहन उपलब्ध नहीं है तो संबंधित को सामाजिक दूरी बनाए रखते हुए परिवहन की व्यवस्था करनी होगी।


11. स्वच्छता के संबंध में सभी कर्मचारियों को उचित प्रशिक्षण दिलवाया जाए।


यह गतिविधिया रहेंगी बंद


 नारनौल। उपायुक्त जगदीश शर्मा ने बताया कि गृह मंत्रालय की नई गाइडलाइन के अनुसार 17 मई तक सिनेमा हॉल शॉपिंग मॉल जिम स्पोर्ट्स कंपलेक्स स्विमिंग पूल एंटरटेनमेंट पार्क थिएटर बार ऑडिटोरियम असेंबली हॉल और इस तरह की सभी जगह बंद रहेंगी। होटल रेस्टोरेंट इत्यादि हॉस्पिटैलिटी सेवाओं से संबंधित सभी तरह की गतिविधियां बंद रहेंगी। इसके अलावा स्कूल कॉलेज यूनिवर्सिटी कोचिंग संस्थाएं और प्रशिक्षण संस्थान भी बंद रहेंगी। सामाजिक धार्मिक सांस्कृतिक और खेल आयोजन व समारोह भी नहीं होंगे। सभी धार्मिक स्थल पहले की तरह बंद रहेंगे।


कोरोना योद्धा एवं पत्रकारों का सम्मान

अतुल त्यागी 


बाबूगढ़ छावनी के  नगर पंचायत अध्यक्ष द्वारा पत्रकारों का सम्मान


हापुड। नगर पंचायत बाबूगढ़ छावनी  में आज कोरोना वायरस के योद्धाओं में शामिल पत्रकारों का सम्मान किया गया। नगर  पंचायत बाबूगढ छावनी के  अध्यक्ष जगवीर गुर्जर द्वारा पत्रकारों का सम्मान किया गया नगर पालिका अध्यक्ष जगवीर  सिंह गुर्जर ने कहा कि पत्रकार भी आज इस मुश्किल वक्त में अपना 100% दे रहे हैं तथा अपने परिवार की चिंता किए बगैर भी पत्रकार   खबरों के लिए जगह-जगह पहुंचते हैं और जनता  तक खबर  पहुंचाने का कार्य करते हैं इसलिए पत्रकारों का सम्मान करना भी हमारा दायित्व बनता है इस अवसर पर नगर पालिका अधिशासी अधिकारी नमिता चौधरी,सभासद शिवकुमार, सभासद सत्यम मास्टर, सभासद आदर्श शर्मा, सभासद अनिस अहमद ने भी पत्रकारों का स्वागत किया मेरठ मंडल प्रभारी अतुल त्यागी, रिंकू सैनी राजेंद्र सिंह, सचिन सिंह,निशांत सैनी का स्वागत किया गया।रिंकू सैनी
बाबूगढ़ छावनी में सफाई कर्मी व मीडिया कर्मियों को चेयरमैन ने किया सम्मानित


चेयरमैन व सभासदगणों ने की कोरोना वरियर्स की हौसला अफजाई


(हापुड़) देश में फैली महामारी कोरोना से लड़ रहे दिन रात मेहनत कर रहे सफाई कर्मियों व मीडिया कर्मियों का नगर पंचायत चेयरमैन बाबूगढ़ व समस्त सभासदगणों ने सम्मानित किया हैं चेयरमैन ने कहा कि ऐसी मुश्किल स्थिति में सफाई कर्मी अपनी ड्यूटी कर रहे हैं और मीडिया कर्मी भी दिन रात एक कर आसपास की सभी सूचनाएं लोगों तक पहुंचा कर अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं हमें  कोरोना फाइटर्स  का ऐसे ही सम्मान कर उनकी हौसला अफजाई करनी चाहिए। देश भर में फैले इस वायरस से बचाव को लेकर हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं एवं इस लाॅकडाउन के दौरान दैनिक मजदूर किस्म के लोगों को खाद्य राशन की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है जिसके लिए उनके लिए शासन प्रशासन व नगर पंचायत की तरफ से घर-घर जाकर जरूरतमंद व असहाय लोगों को खाद्य सामग्री आटा,चावल,दाल,तेल मसाले व अन्य जरूरी राशन पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है नगर वासियों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होने दी जाएगी,चेयरमैन ने लोगों से घरों में सामाजिक दूरी बनाकर रहने लॉकडाउन का पालन करने व शासन प्रशासन का सहयोग करने की अपील की है सम्मानित करने  वालो मे अधिशासी अधिकारी नमिता चौधरी सभासद शिवकुमार सभासद सत्यम मास्टर जी सभासद आदर्श शर्मा सभासद अनिस अहमद आदि मौजूद थे।


नगर वासियों की सुरक्षा सर्वप्रथम: चेयरमैन जगबीर सिंह गुर्जर*


नगर के मुख्य मार्ग पर दो सैनिटाइजर मशीन की व्यवस्था कर दो कर्मचारी किये तैना
हापुड़ देश में फैली महामारी कोरोना वायरस से बचाव को लेकर शासन प्रशासनिक अधिकारी व जनप्रतिनिधि इस वायरस से बचने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं इसी क्रम में नगर पंचायत बाबूगढ़ छावनी के चेयरमैन जगबीर सिंह गुर्जर ने  हापुड़ जब हमारे संवाददाता रिंकू सैनी  से बातचीत के दौरान बताया कि जनहित की सुरक्षा के द्रष्टिगत नगर के लगभग सभी रास्ते बेरिकैडिंग लगाकर बंद कर दिए गए हैं केवल एक मुख्य मार्ग को लोगों के जरूरी कामकाज की आवाजाही हेतु खोला गया है इस मुख्य द्वार के दोनों तरफ इलेक्ट्रिक मशीन द्वारा सैनिटाइजर की व्यवस्था कर दो कर्मचारियों को तैनात किया गया है किसी भी बाहरी व्यक्ति को सैनिटाइज कराने के बाद ही अन्दर परवेस मिलेगा।


आरोग्य सेतु डाउनलोड करने पर बल

आरोग्य सेतु एप्स डाउनलोड करने पर दिया गया बल
आरोग्य सेतु एप से कोरोनावायरस संक्रमण के बारे में मिलती जानकारी
बिंदकी फतेहपुर। सभी लोग आरोग्य सेतु एप जरुर डाउनलोड कर ले क्योंकि इस ऐप के जरिए कोरोनावायरस संक्रमण के बारे में तुरंत जानकारी मिलती है और आप अलर्ट होकर इस संक्रमण से बचाव के लिए उपाय कर सकते हैं। यह बात अपर उप जिला अधिकारी  प्रियंका देवी ने कोतवाली परिसर में पुलिस बल से कहा।
         उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के लिए जिन लोगों ने भी अभी तक आरोग्य सेतु एप डाउनलोड नही किया हो वह अपने मोबाइल में निश्चित रूप से अभी डाउनलोड कर ले। उन्होंने बताया कि मोबाइल में इस ऐप के लोड हो जाने के बाद यदि कोरोना संक्रमित कोई व्यक्ति आपसे थोड़ा दूर भी है। आसपास है तो आपको जानकारी मिल जाएगी इतना ही नहीं यदि आप कई दिन पहले कोरोना संक्रमित व्यक्ति के आसपास पहुंचे हैं। तो भी आपको यह अलर्ट कर देगा ताकि आप कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए उपाय करें उसी स्थान पर मत जाएं उन्होंने पुलिस बल से कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के लिए कहा कि सभी लोग लॉक डाउन का पालन कराने के लिए तत्पर रहें। जो लोग मास्क  लगाते हो सामाजिक दूरी का पालन ना करते हो उनको भी समझाने का पूरा प्रयास करें और लोगों से कहें कि अधिक से अधिक समय ज्यादा से ज्यादा लोग अपने घरों में ही रहे ताकि कोरोनावायरस संक्रमण से बचा जा सके इस मौके पर उप जिलाधिकारी प्रहलाद सिंह सीओ योगेंद्र मलिक कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नंदलाल सिंह सहित भारी पुलिस बल मौजूद रहा।


रंजिश को लेकर चले धारदार हथियार

पुरानी रंजिश को लेकर दो पक्षों में चले धारदार हथियार वहीं पत्थर से 2 महिला सहित 6 लोग घायल


सुनील पुरी
बिंदकी फतेहपुर। पुरानी रंजिश को लेकर दो पक्षों में पहले कहासुनी हुई फिर बात इतनी बढ़ती चली गई कि दोनों पक्षों से धारदार हथियार व ईंट पत्थर चलने लगे। जिसमें दो महिलाएं सहित 6 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को मेडिकल परीक्षण के लिए सीएससी भेज दिया।
        जानकारी के अनुसार बिंदकी कोतवाली क्षेत्र के दौलताबाद गांव में पुरानी रंजिश को लेकर पहले कहासुनी हुई फिर गाली गलौज होना शुरू हो गया। बात इतनी बढ़ती चली गई कि दोनों पक्ष से धारदार हथियार और ईंट पत्थर चलने लगे जिसमें राबिया पत्नी इसरार किस्मतुन पत्नी इकरार उस्मान पुत्र इसरार सलमान पुत्र उस्मान यूसुफ पुत्र असलम को धारदार हथियार से शेरू गुड्डू छोटू यासीन रज्जन ने मार्कर गंभीर रूप से घायल कर दिया यह जानकारी जब पुलिस को दी गई पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भर्ती कराया।


भारम ने की सीबीआई जांच की मांग

नई दिल्ली। 1 मई सांय 4 से 6 बजे तक वीडियो कान्फ्रेन्स के माध्यम से भारत रक्षा मंच की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक आयोजित की गई जिसमें निम्नलिखित लोगों ने हिस्सा लिया
आदरणीय सूर्यकांत केलकर जी राष्ट्रीय संगठन मंत्री एवं संस्थापक भारत रक्षा मंच ,सुर्पीम कोर्ट के वरिष्ठ व अधिवक्ता श्री ज्ञान प्रकाश गुप्ता जी राष्ट्रीय मंत्री भारत रक्षा मंच, डॉ पीके सिंघल दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष भारत रक्षा मंच, श्री शशांक चोपड़ा दिल्ली प्रदेश महामंत्री भारत रक्षा मंच ,कमांडर भूषण दीवान राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ संदीप कुमार दिल्ली प्रदेश संगठन मंत्री भारत रक्षा मंच एडवोकेट सुधीर मेंदीरत्ता जी राष्ट्रीय विधि प्रकोष्ठ सह प्रमुख रघुनाथ सिंह जी क्षेत्रीय संगठन मंत्री भारत रक्षा मंच गोविंद मालवीय क्षेत्रीय संगठन मंत्री चंद्र रेखा तिवारी दिल्ली प्रदेश उपाध्यक्ष नेत्रपाल शर्मा दिल्ली प्रदेश उपाध्यक्ष आचार्य राजवीर दिल्ली प्रदेश उपाध्यक्ष लोकेश शर्मा जी दिल्ली प्रदेश उपाध्यक्ष प्रवीण दत्त चतुर्वेदी युवा प्रकोष्ठ प्रमुख एवं भारत रक्षा मंच के सदस्य गण श्री चंदन कुमार एडवोकेट नीरज पाल, मेरठ प्रांत से सगंठन मंत्री रामदास गोयल ,धीरज कुमार ,बागपत जिला अध्यक्ष रविंद्र वर्मा जी, मेरठ प्रांतीय महामंत्री प्रदीप गोस्वामी जी, विजय कुमार शर्मा जी रजनीकांत जी सुश्री सू सन आनंद जी विजय मिश्रा जी महेंद्र पाल जी वीके गुप्ता जी रोहित सहारण जी मनोज राजपूत जी ,मेरठ प्रांतीय अध्यक्ष सुनील गर्ग जी ,आनंद कार जी, विश्व विख्यात शूटर और सेना से रिटायर्ड फोजी श्री दिग्विजय सिंह जी, रवि शर्मा जी डॉ धीरज कुमार जी एवं आशा शुक्ला दिल्ली प्रदेश मंत्री , विधि प्रकोष्ठ प्रमुख गोविंद सिंह, मेरठप्रांतीय मीडिया प्रभारी संदीप गुप्ता इत्यादि ने इस बैठक में हिस्सा लिया। जिसमे सभी नागरिकों से कोराना महामारी से बचाव के लिए अपने घर मे रहने की अपील की गई, और केन्द्र  सरकार और राज्य सरकार के सभी निर्देशो का पालन सभी देश के नागरिक करे और भारत के राष्ट्रपति के माध्यम से महाराष्ट्र सरकार और केन्द्र सरकार से मागं की गई। पाल भर मे संतो की निर्मम हत्या कांड की सीबीआई जांच हो और सभी दोषियो पर सख्त कार्यवाही हो और जिस प्रकार देश मे पुलिस और डाक्टरो और सफाई कर्मचारियो पर हमले हो रहे है। उसकी सभी सदस्यो ने कडी निंदा की और सरकार से मांग की ऐसे अपराधी और सामाजिक द्रोहीयो को चिन्हित कर उन पर सख्त कार्यवाही करे और लोक डाउन मे कुछ राज्य सरकारे राजनिती कर कोराना जैसी महामारी मे देश के नागरिको की जान की परवाह ना कर लोक डाउन के नियम का पालन नही कर रही है। ऐसे राज्य सरकारों को भारत सरकार को सख्त हिदायत देनी चाहिए।
संदीप गुप्ता


सोशल डिस्टेंस के प्रति समर्पित कर्मचारी

लंबी चौड़ी डींग हांकने वाले सरकारी नुमाइंदे उड़ा रहे हैं सोशल डिस्टेंस की धज्जियां


कौशांबी पूरे विश्व में कोरोना वायरस की महामारी के प्रकोप फैलने के बाद उत्पन्न हुई आपातकालीन और महामारी की स्थिति से निपटने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीसरे चरण के लॉक डाउन की भी घोषणा कर दी है और लॉक डाउन के दौरान सोशल डिस्टेंस बनाए रखने की लोगों से बार-बार प्रधानमंत्री अपील कर रहे हैं जिससे देश में महामारी का प्रकोप फैलने पर रोक लगाया जा सके।
 सोशल डिस्टेंस बनाये रखने लॉक डाउन का पालन करने के लिए सूबे के मुख्यमंत्री के साथ-साथ आला अधिकारी भी लोगों को सचेत कर बार बार नियमों का कड़ाई से पालन करने का निर्देश दे रहे हैं। काफी हद तक सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने में आमजनता खरी उतर रही है।


आम जनता को लॉक डाउन और सोशल डिस्टेनसिंग का पालन करने का निर्देश देने वाले नगर पंचायत करारी के जिम्मेदार सरकारी नुमाइन्दे केंद्र और प्रदेश सरकार के आदेशों को खूंटी में टांग कर सोशल डिस्टेंसिंग की खुलेआम बेखोफ तरीके से धज्जियां उड़ाते हुए देखे जाते हैं। लेकिन इन  अधिकारियों और कर्मचारियों पर कानून की धज्जियां उड़ाने पर कौन कार्यवाही करेगा इन्हें कानून का पाठ कौन पढ़ाएगा यह पूरी व्यवस्था पर बड़ा सवाल है। ताजा मामला करारी नगर पंचायत के एक सफाई कर्मी के सेवानिवृत्त हो जाने के बाद उसके सम्मान में आयोजित किया गया बिदाई स्वागत समारोह का है। स्वागत समारोह में नगर पंचायत के जिम्मेदार कर्मचारियों ने जमकर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई है। इसके पूर्व मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में भी मीटिंग के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जा चुकी हैं। इतना ही नहीं इसके पूर्ब गरीबों को भोजन पैकेट बांटने के मामले में एक विधायक और उनके समर्थकों द्वारा जमकर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई गई थी।


लेकिन लॉक डाउन के दौरान घरों में रहने की अपील और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का निर्देश केवल गरीब कमजोर आम जनता तक लागू होता दिख रहा है। सरकारी नुमाइंदे और जिम्मेदार लोग योगी मोदी के निर्देश का पालन करते नहीं दिख रहे हैं। जिससे इस जिले में कोरोनावायरस की महामारी का प्रकोप यदि बढ़ा तो उसकी जवाबदेही किसकी होगी और सोशल डिस्टेनसिंग की धज्जियां उड़ाने वाले इन सरकारी नुमाइंदों की मेडिकल जांच कराते हुए इनको 14 दिनों के लिए अलग स्थानों पर रखने के साथ-साथ नियमों की अनदेखी करने के मामले में इन लापरवाह लोगों पर क्या जिला प्रशासन मुकदमा दर्ज कराएगा यह व्यवस्था पर बड़ा सवाल है।


सुशील केशरवानी


बहू के हत्यारे सास-ससुर गिरफ्तार

विवाहिता के हत्यारे सास-ससुर गिरफ्तार


तीन महीने पूर्व विवाहिता की हत्या कर फरार हो गए थे ससुराली जन


अझुवा कौशाम्बी। सैनीकोतवाली के उचरावा गांव में एक विवाहिता की लगभग 3 महीने पूर्व हत्या कर हत्यारे ससुराली जन घर छोड़कर फरार हो गए थे जिनकी तलाश पुलिस लंबे समय से कर रही थी विवाहिता की हत्या के आरोप में शनिवार को पुलिस ने विवाहिता के ससुर और सास को गिरफ्तार कर लिया है और लिखा पढ़ी कर उन्हें जेल भेज दिया है। पति अभिमन्यु को  पहले ही पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।


जानकारी के मुताबिक फतेहपुर जनपद के खागा थाना अंतर्गत छीमी गांव निवासी अशोक कुमार की बेटी गीता देवी की शादी 5 वर्षों पूर्व सैनी कोतवाली क्षेत्र के उचरावा गांव निवासी अभिमन्यु के साथ हुई थी। शादी के कुछ दिन बाद अभिमन्यु अपनी पत्नी गीता को लेकर गाजियाबाद चला गया जहाँ वह एक प्राइवेट फैक्ट्री में काम करता था। घटना के कुछ दिनों पूर्व ही अभिमन्यु अपनी पत्नी गीता को लेकर गांव लौटा था 10 फरवरी को विवाहिता गीता देवी की हत्या कर दी गयी। विवाहिता की हत्या की जानकारी उसके मायके के लोगों को जब मिली तो मायके के लोगो ने सैनी कोतवाली में धारा 498 के तहत मुकदमा दर्ज करा दिया। मुकदमा दर्ज करने के बाद पुलिस ने हत्यारों की खोज शुरू कर दी लेकिन हत्यारे फरार थे।


पुलिस अधीक्षक श्री अभिनंदन के कुशल निर्देशन में अपराध एवम अपराधियों के विरुद्ध  चलाये जा रहे अभियान स्वरूप थाना कोतवाली सैनी पुलिस द्वारा मुकदमा अपराध संख्या 43/20 धारा 498A दहेज हत्या 304B आईपीसी 3/4D. P अधिनियम के तहत फरार चल रहे अभियुक्तों ससुर हरिशरण व सास निर्मला देवी निवासी  उचरांवा को गांव से गिरफ्तार कर लिया है। हत्यारोपी सास ससुर को गिरफ्तार करने वाली टीम में उपनिरीक्षक इन्द्रकांत यादव अपने हमराही कांस्टेबल योगेंद्र, महिला कांस्टेबल मधु के साथ अभियुक्तों को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय को सुपुर्द किया।


सन्तलाल मौर्य


39 पर लॉक डाउन उलंघन के मामले

कोरोना वायरस के मददेनजर लाॅकडाउन का उल्लंधन करने वालों के विरूद्व जनपद बागपत पुलिस द्वारा की गयी कार्यवाही
गोपीचंद सैनी


बागपत। जनपद बागपत पुलिस द्वारा लाॅकडाउन का उल्लंधन करने वालों के विरूद्व 02 अभियोग पंजीकृत कर 39 लोगों के विरूद्व थानावार विधिक कार्यवाही का विवरण-
दिनांक 01.05.2020 को थाना सिंघावली अहीर पर 01 अभियोग पंजीकृत कर 38 लोगों के विरूद्व, थाना बडौत पर 01 अभियोग पंजीकृत कर 01 व्यक्ति के विरूद्व विधिक कार्यवाही की गयी है। थाना कोतवाली बागपत पुलिस द्वारा बाद मुठभेड 03 शातिर लूटेरे, लूट की बोलेरो गाडी मय 15 बोरे मुर्गी दाना व एक मोबाईल फोन एवं अवैध असलाह सहित गिरफ्तार।
घटना का संक्षिप्त विवरण-
दिनांक 18.04.2020 को थाना कोतवाली बागपत पर वादी श्री मुन्ना सिंह पुत्र रामशंकर निवासी कहरा सुलेमपुर थाना सम्मनपुर जनपद अम्बेडकरनगर ने लिखित सूचना दी कि दिनाँक 17.04.2020 की रात्रि समय करीब 23ः30 बजे उससे व डाईवर मोनू पुत्र मुन्नाखान निवासी बाखरपुर बालैनी जनपद बागपत से ग्राम काठा बन्दपुर रोड पर कुछ अज्ञात बदमाशों द्वारा बोलेरो पिकअप गाडी नम्बर-डीएल-1एलएसी-1021 मय 15 बोरे मुर्गी दाना व एक मोबाईल फोन लूटकर ले गये। इस घटना के सम्बन्ध मे थाना कोतवाली बागपत पर मु0अ0सं0 226/2020 धारा 392 भादवि बनाम अज्ञात पंजीकृत किया गया था।
पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही-
श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय बागपत के निर्देशन में अपर पुलिस अधीक्षक महोदय व क्षेत्राधिकारी बागपत के नेतृत्व में थाना कोतवाली बागपत पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही के दौरान दिनांक 01.05.2020 को रात्रि 21ः05 बजे सैंट एंजेल्स पब्लिक स्कूल बागपत चमरावल रोड पर चैकिंग के दौरान बाद मुठभेड 03 लुटेरे 1-गौरव यादव उर्फ टाइगर पुत्र कृष्णपाल उर्फ सुक्कड निवासी पटटी अहिरान कस्बा व थाना खेकडा 2-कल्लू पुत्र सतबीर जोगी निवासी पटटी रामपुर कस्बा व थाना खेकडा जनपद बागपत 3-राजू पुत्र सूरजपाल निवासी बुद्वविहार थाना नन्दनगरी दिल्ली को गिरफ्तार किया गया है। मुठभेड़ में बदमाशों से लूट की बोलेरो गाडी मय 15 बोरे मुर्गी दाना व एक मोबाईल फोन एवं अवैध असलाह 02 तमंचे मय 02 खोखा व 03 जिंदा कारतूस बरामद हुए है। गिरफ्तार अभियुक्तों के विरूद्व थाना कोतवाली बागपत पर विधिक कार्यवाही कर जेल भेजा जा रहा है।
पूछताछ पर अभियुक्तों ने बताया कि दिनाँक 17.04.2020 की रात्रि समय करीब 23ः30 बजे मुन्ना व डाईवर मोनू से ग्राम काठा बन्दपुर रोड पर बोलेरो पिकअप गाडी नम्बर-डीएल-1एलएसी-1021 मय 15 बोरे मुर्गी दाना व एक मोबाईल फोन लूटकर ले गये थे, बोलेरो गाडी व 15 बोरे मुर्गी दाने को हरियाणा मे बेचने के लिए जा रहे थे कि पुलिस द्वारा पकडे गये।
गिरफ्तार अभियुक्तों(लूटेरों) का नाम व पता-
1-गौरव यादव उर्फ टाइगर पुत्र कृष्णपाल उर्फ सुक्कड निवासी पटटी अहिरान कस्बा व थाना खेकडा जनपद बागपत।
2-कल्लू पुत्र सतबीर जोगी निवासी पटटी रामपुर कस्बा व थाना खेकडा जनपद बागपत।
3-राजू पुत्र सूरजपाल निवासी बुद्वविहार थाना नन्दनगरी दिल्ली।
 बरामदगी का विवरण-
1-लूट की बोलेरो गाडी मय 15 बोरे मुर्गी दाना।
2-लूट का एक मोबाईल फोन। 
3-अवैध असलाह 02 तमंचे मय 02 खोखा व 03 जिंदा कारतूस।


थाना कोतवाली बागपत पुलिस द्वारा एक अभियुक्त गिरफ्तार।
थाना कोतवाली बागपत पुलिस द्वारा मु0अ0सं0 249/2020 धारा 452, 323, 504, 506, 307 भादवि में अभियुक्त समीर पुत्र जाकिर निवासी राशिद कालौनी कस्बा व थाना बागपत को गिरफ्तार किया है।


चिन्हित किए क्षेत्रों को किया सैनिटाइज

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना-19 टीम जिला अस्पताल गाजियाबाद से एनटीईपी टीम व आरबीएसके की टीमों द्वारा खोडा गाजियाबाद क्षेत्र मे स्थानीय पुलिस टीम के सहयोग से कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के घर के आसपास के घरों पर टीमों के सदस्यों द्वारा कोरोना वायरस के प्रति स्क्रीनिंग की, जिसमें टीमें द्वारा घर-घर जाकर प्रत्येक सदस्यों का हालचाल व बाहर से आने वाले सदस्यों के बारे में भी जानकारी एकत्रित की ,इसके साथ-साथ मलेरिया टीम द्वारा क्षेत्र में सैनिटाइजर का छिड़काव कराया गया। जिसमें स्वास्थ्य विभाग की तरफ से एनटीईपी (टीबी) विभाग के श्री महेश कौशिक, ,नीरज कुमार शर्मा, रविंद्र कुमार भोजपुर, रविंद्र कुमार द्वितीय, चंद्रप्रकाश गौड़, राकेश कुमार बम्हेटा,पवन कुमार, कपिल कुमार, राजेंद्र सिंह, राजेश कुमार शर्मा, रविंद्र चौधरी, गौतम सिंह, प्रणेश कुमार दुबे जी एवं आरबीएसके की टीम की तरफ से डॉक्टर नवनीत कौशिक ,डॉक्टर आशुतोष सिंह,डॉ सुशांन्त, डॉक्टर चेतन वर्मा, वरुण शर्मा, स्वास्थ केंद्र लोनी से हैल्थ सुपरवाइजर श्री राधे कृष्ण शर्मा, मनोज कुमार बीपीएम लोनीऔर विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम सदस्यों के साथ सभी ने अपना योगदान दिया।


निष्ठा पर टिका है विभाग का अस्तित्व

विजय भाटी


ग़ाज़ियाबाद। जब से कोरोना वायरस महामारी ने देश में अपने पैर को पसारे है। तब से देखने को मिल रहा है कि डॉक्टर टीम, सफाई कर्मचारी,एवं शासन-प्रशासन लोगों की सुरक्षा हेतु कहीं ना कहीं अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए दिखाई दे रहे हैं।


ऐसा ही हमको थाना सिहानी गेट क्षेत्र के मालीवाडा चौक पर सिपाही अपनी ड्यूटी की जिम्मेदारी को समझते हुए धूप में खड़े होकर लोगों को लाउडस्पीकर के माध्यम से लॉक डाउन के नियमों से अवगत कराता हुआ दिखाई दिया। लोगों को कहा कि कोई भी व्यक्ति लॉक   डाउन का उल्लंघन ना करें। और अपने घरों में ही रहे। सरकार के  आदेशों का पालन करें। अगर कोई व्यक्ति उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही भी हो सकती हैं।


लोनी में भुखमरी के साथ पलायन प्रारंभ

लोनी कोतवाल बिजेंद्र भडाना और बंथला चौकी इंचार्ज रामप्रताप राघव व भाजपा नेता संदीप पहलवान निठोरा ने राशन देकर की गरीब परिवारो की मदद


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। जनपद के लोनी में गरीब मजदूर परिवारों का पलायन का मामला सामने आया है। आपको बता दें मध्यप्रदेश के पन्ना जिले के रहने वाले गरीब मजदूर परिवार के साथ गाजियाबाद के लोनी में रहते हैं और यहां पर रहकर मजदूरी करते हैं। लाक डाउन के बाद में मजदूरी नहीं मिलने के कारण इन लोगों के सामने भूखे मरने की नौबत आ गई है। खाने की व्यवस्था ना हो पाने के कारण गरीब मजदूर परिवारों के साथ पैदल ही मध्यप्रदेश के लिए चल दिए। इनके साथ छोटे-छोटे बच्चे और महिलाएं भी थी। लेकिन रास्ते में ही इन्हें पुलिस ने रोककर भोजन की व्यवस्था कराने का आश्वासन देकर वापस इनके घर भेज दिया। परिवार के लोगों का कहना है की भूख से मरने से बेहतर है कि हम पुलिस के डंडे खाकर या पैदल चलते हुए रास्ते में कहीं मर जाए मरना तो हमें है ही।
ऐसे में लोनी में प्रशासन द्वारा किए जा रहे बडे बडे दावो के बीच व्यवस्था की पोल खुल गई है। सोशल मीडिया पर रोज फोटो अपलोड करने वालों के मुंह पर करारा तमाचा है। कई रसोई चलाने वाले लोगों के दावों पर यह प्रश्न चिन्ह अंकित हो गया है। इसमें प्रशासन भी बराबर का हिस्सेदार है। दवे के अनुरूप चलने वाली रसोईयो का खाना जा कहां रहा है ?


सभासदों पर राशन में सेंधमारी का आरोप

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश में माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने उत्तर प्रदेश की जनता के हितों का ध्यान रखते हुए यह निर्णय लिया था कि बिना राशन कार्ड वाले लोगों को भी आधार कार्ड के आधार पर कुछ राशन दिया जाएगा। इसी निर्देश का पालन करते हुए लोनी नगर पालिका के उप जिलाधिकारी खालिद अंजुम जी ने राशन कोटेदार के यहां पहले से ही भीड़ और राशन कोटेदारों पर कार्य के दबाव के चलते यह कार्यभार लोनी नगर पालिका के सभी वार्ड के सभासदों को सौंपा था। लेकिन कोरोनावायरस की इस महामारी में भी भ्रष्टाचारी भ्रष्टाचार करने से बाज नहीं आ रहे ।
सूत्रों से जानकारी मिली है कि लोनी नगर पालिका के कुछ सभासद राशन का गबन कर रहे हैं, तथा जनता को राशन वितरित ना करके उसकी कालाबाजारी कर रहे हैं ।इसके अलावा अपने इस भ्रष्टाचार को छुपाने के लिए सभासद के द्वारा राशन प्राप्तकर्ता के लाभार्थियों की फर्जी लिस्ट भी शायद प्रशासन को सौंपी जा रही है।
लोनी नगर पालिका प्रशासन द्वारा यदि धरातल पर उतरकर सभासदों के द्वारा वितरण की गई राशन सामग्री के लाभार्थियों की लिस्ट की जांच की जाए तो सारा भ्रष्टाचार सामने आ जाएगा।
देखने वाली बात यह है कि कोरोनावायरस में भुखमरी से मर रहे लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए सभासद द्वारा किए जा रहे राशन भ्रष्टाचार की लोनी नगर पालिका प्रशासन कितनी ईमानदारी से जांच कराकर लोनी की जनता को राहत पहुंचाता है ,और भ्रष्टाचारियों पर उचित कार्यवाही कब की जाएगी।


नी नगर पालिका के सभी वार्ड के सभासदों को सौंपा था। लेकिन कोरोनावायरस की इस महामारी में भी भ्रष्टाचारी भ्रष्टाचार करने से बाज नहीं आ रहे ।


सूत्रों से जानकारी मिली है कि लोनी नगर पालिका के कुछ सभासद राशन का गबन कर रहे हैं, तथा जनता को राशन वितरित ना करके उसकी कालाबाजारी कर रहे हैं ।इसके अलावा अपने इस भ्रष्टाचार को छुपाने के लिए सभासद के द्वारा राशन प्राप्तकर्ता के लाभार्थियों की फर्जी लिस्ट भी शायद प्रशासन को सौंपी जा रही है।
लोनी नगर पालिका प्रशासन द्वारा यदि धरातल पर उतरकर सभासदों के द्वारा वितरण की गई राशन सामग्री के लाभार्थियों की लिस्ट की जांच की जाए तो सारा भ्रष्टाचार सामने आ जाएगा।
देखने वाली बात यह है कि कोरोनावायरस में भुखमरी से मर रहे लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए सभासद द्वारा किए जा रहे राशन भ्रष्टाचार की लोनी नगर पालिका प्रशासन कितनी ईमानदारी से जांच कराकर लोनी की जनता को राहत पहुंचाता है ,और भ्रष्टाचारियों पर उचित कार्यवाही कब की जाएगी। बहुत जल्द आपको अगली कड़ी में कुछ भ्रष्टाचारी सभासदों के नाम खोले जाएंगे।


दावाः चमगादड़ से तैयार होगा टीका

न्यूयॉर्क। चमगादड़ों पर शोध करने वाले अमेरिकी वैज्ञानिक पीटर डेसजैक की माने तो कोरोना का इलाज उसी से होगा जो इस बीमारी को लेकर आया है। यानी चमगादड़ से! पीटर की माने तो चमगादड़ से ही कोरोना का इलाज मिल सकता है। पीटर इसके लिए कई चमगादड़ों को पकड़ कर उनपर शोध कर चुके हैं।


पीटर एक वायरस हंटर हैं जो चमगादड़ों मे मिलने वाले वायरस पर काम करते हैं। पीटर एक संस्था इकोहेल्थ अलायंस के अंतर्गत काम करते हैं। पीटर अब तक पिछले 10 सालों में 20 देशों से सैंकड़ों सैंपल एकत्र कर चुके हैं। इतना ही नहीं उन्होंने अपनी टीम के साथ मिलकर कोरोना वायरस फैमिली के 15 हजार से ज्यादा नमूने तलाश किए हैं जिनमें से 500 नए कोरोना वायरस से जुड़े हैं।


संक्रमण में 65 प्रतिशत पुरुषों की मौत

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के डाटा के अनुसार भारत में कोरोना वायरस की वजह से पुरुषों की तुलना में कम महिलाओं की मौत हो रही है। मृतकों में लगभग आधे मरीजों की उम्र 60 से ऊपर है। 30 अप्रैल दोपहर तक देशभर में कोविड-19 की वजह से 1,074 लोगों की मौत हुई है। जिसमें से 65 प्रतिशत पुरुष हैं। जिससे पता चलता है कि वायरस से पुरुषों की तुलना में कम महिलाओं की जान गई है। 


22 अप्रैल को पीयर में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार अमेरिकी पत्रिका जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन (जामा) ने न्यूयॉर्क शहर के 12 अस्पतालों में भर्ती 5,700 कोविड-19 रोगियों के विश्लेषण से पता चला कि कम से कम 60 प्रतिशत पुरुष अस्पताल में भर्ती थे। जबकि इंटेंसिव केयर यूनिट में जिन 373 मरीजों का इलाज चल रहा था उनमें से 66.5 प्रतिशत पुरुष थे। गंभीर रूप से बीमार मरीजों में मधुमेह, उच्च रक्तचाप और मोटापा सबसे आम बीमारियां थीं।


वहीं भारतीय मरीजों में कोरोना मधुमेह, उच्च रक्तचाप, गुर्दे या हृदय रोग जैसी आयु और अंतर्निहित चिकित्सा स्थितियों के कारण गंभीर रूप ले रहा है। वायरस के कारण जान गंवाने वाले 78 प्रतिशत का स्वास्थ्य किसी न किसी वजह से खराब था और 51.2 प्रतिशत की उम्र 60 साल से ऊपर है। 60 साल से ऊपर वाले 51.2 प्रतिशत में से, 42 प्रतिशत की उम्र 60 से 75 साल के बीच है और 9.2 प्रतिशत 75 साल से ऊपर है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि डाटा साफतौर पर दिखाता है कि बुजुर्ग लोग और जो पहले से किसी तरह की बीमारी से ग्रसित हैं उनका ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत है क्योंकि संक्रमित होने पर वे गंभीर बीमार हो सकते हैं। हालांकि भारत में जहां तक मृत्यु दर का सवाल है हम बहुत बेहतर स्थिति में हैं। देश में कुल संक्रमित मरीजों में से 3.2 प्रतिशत रोगियों की मौत हो रही है। जबकि वैश्विक दर 7.28 प्रतिशत है। इटली में मृतकों की दर सबसे ज्यादा 13.60 प्रतिशत है।


कारोबार चौपट, अरबों डॉलर का नुकसान

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के कारण सरकार द्वारा किए गए देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी ऐमजॉन को दुनियाभर में सबसे अधिक नुकसान भारत में हुआ है। बीते 25 मार्च से शुरू हुए लॉकडाउन में कंपनी को केवल जरूरी वस्तुओं की बिक्री की ही मंजूरी दी गई है, जिसके कारण इसे अरबों डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा है। कंपनी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। 


ऐमजॉन के सीएफओ ब्रायन ओल्सावस्की ने गुरुवार को बताया, 'हमारा मानना है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जिस देश में हमें सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा है, वह देश भारत है, जहां अन्य कंपनियों की ही तरह हम भी बस जरूरी वस्तुओं की ही बिक्री कर पा रहे हैं। इसके कारण हमें कई तरह के ऑफर वापस लेने पड़े और उनकी घोषणा हम तभी कर पाएंगे, जब भारत सरकार हमें अपना कामकाज शुरू करने की मंजूरी देगी।' 


इस हफ्ते की शुरुआत में ऐमजॉन इंडिया के हेड अमित अग्रवाल ने पीएमओ तथा वाणिज्य मंत्रालय को मार्क करते हुए ट्वीट में अनुरोध किया था कि सरकार ई-कॉमर्स कंपनियों को अपना कामकाज पूरी तरह शुरू करने की मंजूरी प्रदान करे।


'सुप्रीम कोर्ट' का रवैया निराशाजनक

नई दिल्ली। सुपीम कोर्ट के रिटायर्ड जज जस्टिस मदन बी. लोकुर ने कहा है कि कोरोना संकट के दौरान जिस तरह से सर्वोच्च न्यायालय काम कर रहा है वो बिल्कुल निराश करने वाला है।


द वायर की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा, ‘यह अपने संवैधानिक कर्तव्यों को सही तरह से नहीं निभा रहा है। भारत का सर्वोच्च न्यायालय अच्छा काम करने में सक्षम है, लेकिन मुझे लगता है कि उन्हें आत्मनिरीक्षण करने की आवश्यकता है, उन्हें विचार-मंथन करके यह पता लगाने की आवश्यकता है कि वे आगे कैसे बढ़ें। निश्चित रूप से कोर्ट को और अधिक सक्रिय होना चाहिए।


शामली में एक भी संक्रमित नहींः डीएम

साजिद खान / फरमान अली 


शामली। जिलाधिकारी शामली जसजीत कौर ने बताया कि जनपद में अब तक18 केस कोरोना पॉजिटिव के थे।उन्होंने बताया कि अब जनपद में एक भी कोरोना पॉजिटिव केस नही रहा है सभी व्यक्ति निगेटिव हो चुके हैं।उन्होंने विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि जनपद शामली में पहला केस 24 मार्च को मिला था जो कि दुबई से यात्रा करके लौटा था और 10 दिन बाद उसमें  कोरोना संक्रमण मिला था। जिसके बाद उसका प्रथम सीएचसी शामली में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में उपचार किया गया था। उपचार के बाद स्वस्थ होने पर उसको उसके घर भेजा गया था। उन्होंने बताया कि उसके बाद 02 अप्रैल से लगातार कई केस आये जिसमें 02केस बांग्लादेश,01केस असम,08 केस त्रिपुरा ,और 03 केस बागपत तथा 03 केस तैमूरसा में लगातार मिले।उन्होंने यह भी बताया कि जनपद शामली में आखरी कोरोना पॉजिटिव केस 17 अप्रैल 2020 को मिला था।जिसके बाद इन सभी का उपचार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र झिंझाना में बनाए गए (कोविड-19) हॉस्पिटल में डॉक्टरों की निगरानी में उपचार कराया गया।उन्होंने बताया कि उपरोक्त मरीजों की डॉक्टर द्वारा निरंतर मॉनिटरिंग की गई जिसके परिणाम स्वरूप सभी स्वस्थ हो गए। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि वर्तमान में एक केस कोरोना पॉजिटिव रह गया था।उसकी दूसरी रिपोर्ट भी नेगेटिव प्राप्त हुई है।उन्होंने बताया कि अब जनपद में एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि कुल 18 केस में से 14 तबलीग से संबंधित एवं 4 केस नॉन तबलीग के थे।सभी केस पूर्णता ठीक हो गए।उन्होंने बताया कि अब इनको 28 दिन के लिए इंस्टीट्यूशनल मेडिकल सुविधा में रखा जाएगा।जिलाधिकारी ने समस्त  अधिकारियों तहसील कर्मियों स्वास्थ्य कर्मियों एवं नगर पालिका के कर्मियों की निरंतर मेहनत के परिणाम स्वरूप सभी व्यक्ति ठीक हुए उसके लिए सभी कोरोनायोद्धाओं को बधाई दी। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने यह भी जानकारी दी कि 50 से 60 सैंपल रेंडम लिए जा रहे हैं। इसके अलावा सहारनपुर एवं मेरठ जनपद से लगे गांव एवं जो लोग पिछले कुछ दिनों से आकर अपने घरों में रह रहे हैं उनकी भी रेंडम सेंपलिंग की जाएगी।ताकि आगे भी इस बीमारी के संक्रमण से बचा जा सके।उन्होंने यह भी बताया कि जनपद शामली रेड जॉन से (ऑरेंज) श्रेणी में आ गया है,इसलिए जो सेवाएं पूर्व की भांति चल रही है वह ऐसे ही चलेगी।उसमें किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं किया गया है। किराना की दुकान है सुबह 6:30 से 9:30 तक ही खुलेगी दवाई की दुकानें 24 घण्टे खुलेगी।इसके अतिरिक्त उन्होंने यह भी बताया कि औद्योगिक फैक्ट्रियों द्वारा पूर्ण रूप से पालन करने का प्रमाण पत्र दिया है। जिसके दृष्टिगत उनको फैक्ट्री चलाने की अनुमति दी गई है।इसके अलावा जिलाधिकारी ने यह भी स्पष्ट किया है,कि 3 मई के पश्चात प्रदेश सरकार द्वारा जो भी निर्देश दिए जाएंगे उसके अनुसार ही आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।


शराब तस्करों पर पुलिस ने कसी नकेल

साजिद खान / फरमान अली 


शामली। जनपद शामली के थाना झिंझाना का है। जहां पुलिस अधीक्षक शामली के निर्देश अनुसार थाना झिंझाना पुलिस को सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए गत 1 मई को देर रात खोड़समा गाँव मैं गुरुद्वारे के पीछे अवैध रूप से कच्ची शराब का निष्कासन किया जा रहा था। झिंझाना पुलिस ने शराब फैक्ट्री सहित दो शराब तस्करों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की।
गिरफ्तार अभियुक्तों के नाम गुरजंट सिंह पुत्र बलविंदर सिंह निवासी गांव खोड़समा थाना झिंझाना जनपद शामली और बलविंदर सिंह पुत्र दिलीप सिंह निवासी गांव खोड़समा थाना झिंझाना जनपद शामली को 20 लीटर निष्कासित कच्ची शराब एवं शराब बनाने के उपकरणों के साथ गिरफ्तार किया है। उक्त युवकों के खिलाफ थाना झिंझाना में सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर विधिक कार्रवाई की जा रही है।


आरबीआई ने 1 लाइसेंस कैंसिल किया

दिल्ली। देश में बैंकिंग जगत में इस समय तगड़ी उथल पुथल जारी है। इस बीच बैंकिंग जगत से एक और बुरी खबर सामने आ रही है। एक और बैंक में जमाकर्ताओं के पैसे फंस गए हैं।
दरअसल, देश के सेंट्रल बैंक भारतीय रिजर्व बैंक ने सीकेपी सहकारी बैंक के ग्राहकों को बुरी खबर देते हुए बैंक का बैंकिंग लाइसेंस रद्द कर दिया है। रिजर्व बैंक के इस कदम से बैंक के करीब सवा लाख खाताधारकों के सामने संकट पैदा हो गया है। अब जमाकर्ताओं के करोड़ों रूपये बैंक में फंस गए हैं वहीं बैंक की 485 करोड़ रुपये की एफडी भी फंस गई है।
जानकारी के मुताबिक रिजर्व बैंक साल 2014 से ही लगातार बैंक पर लगाई गई प्रतिबंध की अवधि को बढ़ा रहा था। इस साल की शुरुआत में भी पहले 31 मार्च को बैंक पर लगी पाबंदी की अवधि बढ़ाकर 31 मई की गई थी लेकिन आरबीआई ने उसके पहले ही कड़ा कदम उठाते हुए बैंक का लाइसेंस रद्द कर दिया। अब जमाकर्ताओं का पैसा बैंक में फंस गया है। वो कैसे निकलेगा, इस बारे में फैसला रिजर्व बैंक ही लेगा।


अल्पसंख्यक आयोग अध्यक्ष पर 'देशद्रोह'

नई दिल्ली। दिल्ली राज्य अल्पसंख्यक आयोग अध्यक्ष डॉ. जफरुल इस्लाम खान के खिलाफ देशद्रोह और आमजन की भावनाएं भड़काने का मुकदमा दर्ज हुआ है। मामला दिल्ली के वसंतकुंज इलाके में रहने वाले एक शख्स की शिकायत पर स्पेशल सेल थाने में दर्ज हुआ है। 


हालांकि, पोस्ट करने के कुछ समय बाद ही डॉ. जफरुल ने अपने विवादित और भड़काऊ बयान के सोशल मीडिया से हटा दिया था। साथ ही एक मई को उन्होंने इसके लिए माफी भी मांग ली थी। एफआईआर के मुताबिक, मामले में शिकायतकर्ता कौशल कांत मिश्रा, सेक्टर ए, वसंतकुंज नार्थ में रहते हैं। मिश्रा ने सफदरजंग थाना पुलिस को शिकायत दी थी। जिसमें उन्होंने कहा था कि, 28 अप्रैल 2020 को दिल्ली राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष डॉ. जफरुल इस्लाम खान ने एक भड़काउ पोस्ट फेसबुक और ट्विटर हैंडल पर डाली थी। जिससे समाज में वैमनस्यता फैल सकती थी। मामला गंभीर देखकर एसीपी सफदरजंग ने शिकायत दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल थाने को भेज दी।


दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल थाने ने डॉ. जफरुल इस्लाम खान के खिलाफ इसी शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर दिया। यह केस आईपीसी की धारा 124ए, 153ए के तहत दर्ज किया गया है। इस मामले की जांच स्पेशल सेल के इंस्पेक्टर प्रवीन कुमार को सौंपी गयी है। उल्लेखनीय है कि, डॉ. जफरुल इस्लाम खान ने 28 मार्च को सोशल मीडिया के जरिये तमाम आपत्तिजनक बयान दिये थे। उनके इन बयानों पर देश में एक बहस सी छिड़ गयी थी। तमाम लोगों ने इन बयानों को भड़काऊ और समाज में अशांति फैलाने वाला करार दिया था। अल्पसंख्यक आयोग अध्यक्ष पर देशद्रोह का मामला


सरकारी तंत्र नीतियों पर कार्यरत

नई दिल्ली। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि कोरोना महामारी के वैश्विक संकट के दौरान सरकार देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए दीर्घकालिक रणनीतियां बना रही है तथा विदेशों के साथ सहयोग के लिये तैयार है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विदेशों में भारतीय दूतावासों के साथ बातचीत करते हुए श्री गोयल ने उन इच्छुक देशों का स्वागत किया जो भारत के साथ कारोबार करने की योजना बना रहे हैं। 


उन्होंने कहा कि भारत किसी भी बहुपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर करते समय निष्पक्षता और सहयोग को सबसे अधिक महत्व देता है। इस कारण से भारत ने क्षेत्रीय आर्थिक व्यापक भागीदारी (आरईसीपी) में भाग नहीं लिया। उन्होंने सलाह दी कि द्विपक्षीय या बहुपक्षीय समझौतों के लिए योजना बनाने के लिए डिजिटल रूप से जुड़ने का यह सबसे अच्छा समय है। गोयल ने अन्य देशों से कोरोना महामारी के फैलने के खिलाफ प्रयास में सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि सरकार वर्तमान में भारत में रह रहे विदेशी नागरिकों की सुरक्षा और भलाई सुनिश्चित कर रही है।


साधुओं का हत्यारा निकला कोरोना संक्रमित

पालघर। महाराष्ट्र स्थित पालघर लिंचिंग मामले का एक आरोपी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। वह बीते दिनों वाडा पुलिस स्टेशन में बंद था। आरोपी को पहले पालघर ग्रामीण अस्पताल के एक आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया था और अब उसे जेजे अस्पताल के कैदी वार्ड में स्थानांतरित किया जा रहा है।


ऐसा माना जा रहा है कि आरोपी लॉकअप में ही संक्रमण का शिकार हुआ जहां लगभग 20 अन्य अभियुक्तों को उसके साथ एक ही सेल में रखा गया था। बताया गया कि उसके संपर्क में आए 20 आरोपियों और 23 पुलिस कर्मचारियों को क्वारंटीन किया गया है और सबकी सैंपलिंग की जा रही है।


घटना 16 अप्रैल को गढ़चिंचले गांव में हुई


बता दें कि पालघर में भीड़ द्वारा दो साधुओं समेत तीन लोगों की हत्या के संबंध में महाराष्ट्र पुलिस के अपराध जांच विभाग (सीआईडी) ने पांच और व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है. एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इन पांच व्यक्तियों को मिलाकर मामले के संबंध में अब तक 115 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया जा चुका है जिनमें से नौ नाबालिग हैं।


घटना 16 अप्रैल को गढ़चिंचले गांव में हुई थी जब दो साधु ड्राइवर के साथ किसी की अंत्येष्टि में शामिल होने मुंबई से सूरत एक कार में जा रहे थे। ग्रामीणों की एक भीड़ ने उन्हें रोक कर चोर होने के शक में पीट-पीट कर मार डाला।अधिकारी ने बताया कि कुछ आरोपी बाद में घने जंगल में भाग गए थे जिन्हें पुलिस ने ड्रोन की सहायता की खोज निकाला। गिरफ्तार किए गए पांच आरोपियों को शुक्रवार को अदालत में पेश किया गया जहां उन्हें 13 मई तक सीआईडी हिरासत में भेज दिया गया। अधिकारी ने कहा कि आगे की जांच जारी है।


7 राज्यों नें केंद्र सरकार से की मांग

7 राज्यों के सीएम ने केंद्र से की मांग, लोगों के आवाजाही के लिए विशेष ट्रेनें चलाई जाएं
 


कविता गर्ग


नई दिल्ली। लॉकडाउन के कारण प्रभावित हुए प्रवासी श्रमिकों के अंतरराज्यीय आवागमन को केंद्र सरकार से मिली अनुमति के एक दिन बाद तेलंगाना, केरल, तमिलनाडु, महाराष्‍ट्र, राजस्‍थान, पंजाब और बिहार ने गुरुवार को कहा कि इन कर्मियों की आवाजाही के लिए विशेष ट्रेनें चलाई जाएं। बसों से लोगों को ट्रांजिट किये जाने में संक्रमण का और खतरा है।


पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने गुरुवार को सभी उपायुक्तों को निर्देश दिया कि वे लॉकडाउन के कारण राज्य में फंसे प्रवासी मजदूरों का डेटा तैयार करें। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मजदूरों के परिवहन के लिए विशेष ट्रेनों की व्यवस्था करने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने प्रवासी मजदूरों की वापसी से जुड़ी प्रक्रिया के समन्वय के लिए प्रत्येक जिले में एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने की घोषणा भी की।


वहीं, तेलंगाना के पशुपालन मंत्री टी श्रीनिवास यादव ने को मांग की कि केंद्र प्रवासी श्रमिकों को उनके मूल राज्यों तक जाने के लिए विशेष ट्रेनों का इंतजाम करे और उन्हें मुफ्त में घर पहुंचाए। उन्होंने कहा कि तेलंगाना में बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के करीब 15 लाख प्रवासी मजदूर हैं और यदि वे बसों से यात्रा करते हैं तो उन्हें अपने राज्यों में पहुंचने में तीन से पांच दिन लग जायेंगे। कहा कि यह कहना केंद्र के लिए सही नहीं है कि संबंधित राज्य सरकारों को प्रवासी मजदूरों को बसों से पहुंचाना होगा।


राजस्थान, बिहार, महाराष्ट्र के सीएम ने कही यह बात


साथ ही राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने फिर दोहराया कि लॉकडाउन के कारण दूसरे राज्यों में फंसे श्रमिकों और प्रवासियों के आवागमन के लिए विशेष ट्रेन चलाये जाने की जरूरत है और केन्द्र सरकार को इसके लिये भारतीय रेलवे को अनुमति देनी चाहिए. गहलोत ने कहा कि राजस्थान के लोग तमिलनाडु, केरल, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, असम में फंसे है और उन्हें अपने राज्य में वापस लाने के लिये ट्रेन की आवश्यकता है।


मुख्यमंत्री ने बताया कि केन्द्र सरकार को विभिन्न राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों के लिये विशेष ट्रेन चलाने का प्रबंध करना चाहिए। रेलवे को ट्रेनों का कार्यक्रम जारी करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि केन्द्र सरकार इस पर शीघ्र निर्णय लेगी। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने को केंद्र से प्रवासियों की वापसी के लिए विशेष ट्रेनें चलाने का आग्रह किया। सुशील ने एक वीडियो जारी और ट्वीट कर केंद्र से प्रवासियों की वापसी के लिए विशेष ट्रेनें चलाने का आग्रह किया। वीडियो संदेश में सुशील ने अपील करते हुए कहा कि बिहार के लगातार आग्रह पर केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों में फँसे छात्रों, मजदूरों और पर्यटकों को एक दिशा-निर्देश का पालन करते हुए घर लौटने की अनुमति दी, जिससे प्रवासियों और परिजनों में खुशी है।


महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने भी बीते दिनों कहा था कि बस से लोगों को ट्रांजिट करने में दिक्कत होगी और ट्रेन चलाने की अनुमति दी जाए। केरल से सीएम पिनराई विजयन ने भी यही मांग की है कि बसों से प्रवासी मजदूरों को नहीं लाया जा सकता है। केरल सरकार ने कहा था कि दूसरे राज्‍यों में जाने वालों की संख्‍या कहीं अधिक है। बसों से यह यात्रा काफी लंबी होगी। ऐसे में कोविड 19 संक्रमण फैसने का खतरा रहेगा। तमिलनाडु सरकार ने बसों से लोगों के ट्रांजिट करने का विरोध किया।


जबरन वसूली पर उतरी हरियाणा सरकार

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। हरियाणा सरकार द्वारा बस किरायों में वृद्धि करने तथा पैट्रोल व डीजल के दाम बढ़ाए जाने के फैसले पर विपक्षी दल कांग्रेस ने सरकार की घेराबंदी शुरू कर दी है। हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष कुमारी शैलजा व अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने शुक्रवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आर्थिक संकट की घड़ी में हरियाणा की मनोहर सरकार प्रदेश के ढाई करोड़ लोगों से जबरन वसूली पर उतर आई है। एक तरफ अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की कीमतें गिर रही हैं तो दूसरी तरफ हरियाणा के लोगों पर महंगे पैट्रोल व डीजल का बोझ डाला जा रहा है। मनोहर सरकार ने एक ही झटके में बस किरायों में भारी वृद्धि कर डाली, पैट्रोल व डीजल के दाम बढ़ा दिए और मार्केट फीस लगाकर आम लोगों की रसोई पर भी डाका डालने का काम किया है।


कांग्रेस नेताओं ने कहा कि पिछले छह वर्षों के दौरान सरकार ने पैट्रोल व डीजल पर टैक्स के माध्यम से लोगों से 42 हजार करोड़ रुपये वसूले हैं। नई दरों के बाद सालाना रिकवरी बढकऱ 9255 करोड़ तक पहुंच जाएगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार जीएसटी के माध्यम से तेल रिफाइनरी से पिछले तीन सालों में 1668 करोड़ रुपए वसूल कर चुकी है। वर्ष 2014 में जब कांग्रेस सत्ता से बाहर हुई तो पैट्रोल पर वैट 21 प्रतिशत जो इस समय बढ़कर 26.25 प्रतिशत तक पहुंच चुका है। इसी तरह डीजल पर वैट 9.24 प्रतिशत से बढकऱ 17.22 प्रतिशत हो जाएगा। शैलजा व सुरजेवाला ने कहा कि सरकार खुद यह स्वीकार कर चुकी है कि गुरुवार को कैबिनेट में हुए फैसले के बाद लोगों से पैट्रोल व डीजल के माध्यम से 732 करोड़ रुपए वार्षिक की अतिरिक्त रिकवरी होगी। इसी प्रकार रिफाइनरी सैस के माध्यम से भी सरकार के खजाने में 650 करोड़ रुपए सालाना अतिरिक्त आएंगे। यह सारा भार आम जनता पर पड़ेगा।


मुख्यमंत्री राहत कोष में 511000 दिए

ऋषिकेश ।कोरोना महामारी से बचाव के लिए सरकार और प्रशासन अपने स्तर पर प्रयास कर रही है। वहीं विभिन्न धार्मिक और सामाजिक संस्थाएं भी सराहनीय सेवाएं निभा रही है।कोरोना वैश्विक महामारी से आज पूरा देश प्रवाहित है वहीं राष्ट्रीय संकट की इस घड़ी में श्री गंगा सेवा समिति, ऋषिकेश द्वारा कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करने के लिए 5 लाख 11 हज़ार रुपये की सहायता राशि का चेक विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचंद अग्रवाल को सौंपा गया।


इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि संकट के इस समय मानवीय संवेदनाओं का उत्कृष्ट व अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करते हुए अनेक औद्योगिक, व्यापारिक व सामाजिक संगठन मदद के लिए आगे आए हैं। उन्होने श्री गंगा सेवा समिति, ऋषिकेश द्वारा सरकार को दिए गए सहयोग व योगदान के लिए समिति के सभी पदाधिकारियों का आभार व्यक्त किया।


विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेशवासियों ने कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव और रोकथाम के लिए पिछले एक माह से अधिक समय से जिस प्रकार अनुशासन, आत्म विश्वास एवं मनोबल दिखाया है, वह विलक्षण हैं।उन्होंने कहा कि हमारी यह एकजुटता ही हमें कोविड 19 से लड़ने में हमारे प्रयासों में पूर्ण रूप से सफल करेगी ।
इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष ओमप्रकाश सुनेजा, महासचिव संदीप खुराना, सतीश संघर, डॉ सी एल कोहली, विनोद कुमार अग्रवाल, एसपी कक्कड़, अनिल किंगर, आरके सूरी, अरविंद वशिष्ठ, भरत भूषण, राकेश सुनेजा, अशोक आर्य उपस्थित थे।


पुलिस ने की 95 मेहमानों की खातिरदारी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश ही नहीं पूरे देश में कोरोनावायरस को लेकर हुए लॉकडाउन के बीच लोगों की दुशवारियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। लॉकडाउन की मार सीजन में होने वाली शादियों पर भी पड़ी है। उप्र में दो ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें शादियों के दौरान दुल्हन लेने गई बारात वहीं फंस गई। एक वाकया मिर्जापुर का है जहां बिहार से आई बारात लॉकडाउन में ही फंस गई। हालत यह हुई कि शादी में आए मेहमानों को खाना खिलाने के लिए धुनिया मास्टर को पुलिस की मदद लेनी पड़ी तो सुल्तानपुर से कोलकाता अपनी दुल्हन लाने गया दूल्हा वहीं फंस गया।
गरीब परिवार के लिए लॉकडाउन ने बढ़ाई मुसीबत
लॉकडाउन में एक गरीब परिवार की मुसीबत उस समय बढ़ गयी जब शादी के लिए आयी बारात वहीं फंस गई। मेहमानों को भोजन कराने में नाकाम होने के बाद उसने पुलिस की सहायता ली। जिसके बाद पुलिस ने बारातियों को वापस भिजवाने का इंतजाम करवाया।
लॉकडाउन में एक गरीब परिवार की मुसीबत उस समय बढ़ गई, जब शादी के लिए आई बारात वहीं फंस गई। मेहमानों को भोजन कराने में नाकाम होने के बाद उसने पुलिस की सहायता ली। इसके बाद पुलिस ने बारातियों को वापस भिजवाने का इंतजाम करवाया।
लॉकडाउन के बीच डेढ़ माह तक शादी में आए मेहमानों की खातिरदारी करने के लिए धुनिया मास्टर को गांव वालों के साथ ही पुलिस की मदद लेनी पड़ी। तब कहीं जाकर वह मेहमानों का पेट भर पाया। लॉकडाउन के दौरान गरीबों के सामने महामारी ने विकट समस्या खड़ी कर दी है। ऐसे दौर में भारी-भरकम लोगों की रोज व्यवस्था करना मुसीबत बन गया था। एसडीएम मडिहान विमल कुमार दुबे के अभिभावक की भूमिका में आने के बाद मेहमानों को करीब डेढ़ माह बाद उनके घरों के लिए विदा किया गया। मेहमानों से भरी दो बसों को बहरछठ गाँव से हरी झंडी दिखाकर बिहार के लिए एसडीएम ने रवाना किया।


दरअसल, मड़िहान थाना क्षेत्र के पटेहरा बहरछठ गांव निवासी मुस्तफा उर्फ धुनिया मास्टर के परिवार में एक युवक और दो युवतियों की शादी थी। लड़के का निकाह 18 मार्च तो दोनों लड़कियों का 22 एवं 23 मार्च को था। शादी में शरीक होने के लिए बिहार से 95 की संख्या में मेहमान जुटे थे। इस बीच 24 तारीख की आधीरात से लॉकडाउन हो गया। आवागमन के साधन बंद होने से उनके सामने जाने की और बुलाने वाले के सामने दो वक्त के भोजन कराने की समस्या खड़ी हो गई।
गरीब परिवार के लिए लॉकडाउन मुसीबत बन गया। जानकारी लगने पर एसडीएम ने सभी का जांच कराया। उन्हें एक ही जगह प्रवास करने की बात कहकर समुचित व्यवस्था किया। बिहार से शादी में आकर फंसे मुस्तफा के 95 रिश्तेदार 45 दिनों बाद अपने घर पहुंचेंगे। 24 मार्च की रात्रि में लागू लॉकडाउन की वजह से बिहार नहीं लौट सके थे। सभी बहरछठ गांव निवासी मुस्तफा के दो नातिनों की शादी में शामिल होने 17 मार्च को आए थे।
मुस्तफा के पहली नातिन की 17 व दूसरे की 23 मार्च को शादी थी। रिश्तेदारों ने सोचा था कि एक दिन और रुककर 25 मार्च को घर निकलेंगे, लेकिन 24 मार्च की रात्रि में लॉकडाउन लागू होने से सभी रिश्तेदार फंस गए। इधर रिश्तेदारों को खाना खिलाना भी मुस्तफा को भारी पड़ने लगा और बजट की हालत खस्ता हो गई। गांववालों ने उसकी तकलीफ को एसडीएम मड़िहान तक पहुंचाई। जिस पर उन्होंने सभी बारातियों के भोजन का प्रबंध किया। एसडीएम मड़िहान विमल कुमार दुबे ने शुक्रवार को दो बसों से सभी को बिहार भेजवाया।
कोलकाता से दुल्हनिया लेने गया जिले का एक दूल्हा लॉकडाउन के चलते वहीं फंस गया। हालांकि, जैसे-तैसे सादगी के साथ चंद लोगों के बीच निकाह हुआ और मुस्लिम रीति रिवाज के साथ शादी सम्पन्न हो गई है। जिले के कोतवाली इलाके के शास्त्री नगर निवासी सहबान हाशमी 23 मार्च को देशभर में शुरू हुए लॉकडाउन से ठीक एक सप्ताह पूर्व कोलकाता गए थे। वहां की राशदा हाशमी से 31 मार्च को उसकी शादी तय थी।
सहबान अपनी मां और छोटे भाई के साथ कोलकाता गया था। शादी में शामिल होने के लिए अन्य रिश्तेदारो को भी जिले से कोलकाता जाना था, लेकिन लॉकडाउन के चलते ट्रेने बंद हो गई, इसलिए यहां से कोई शादी में शामिल नहीं हो सका। उधर 31 मार्च को तय तारीख पर लड़की के घर पर ही सहबान, उसका भाई मां और बहन व जीजा बारात लेकर पहुंचे। सादगी के साथ मुफ्ती साहब ने निकाह पढ़ा और शादी की रस्में अदा कर दी गई।
सहबान ने बताया कि एक ही बहन है वो भी भाग्य अच्छा था कि वो कोलकाता में ब्याही थी और शादी में शामिल हो गई। सहबान बताते हैं, बिजनेस और रिश्तेदारियों के चलते उनका कोलकाता बराबर का आना-जाना है। इसलिए दोस्त यार भी उनके वहां पर बहुत हैं, जिसे देखते हुए उसने वलीमे की रस्म वहां ही रख दिया, एक मैरेज लॉन बुक किया था और 150-200 दोस्तों को आमंत्रित किया था। लेकिन लॉकडाउन के चलते इसे स्थगित करना पड़ा। अब दोस्त ताने दे रहे हैं कि जब खिलाना नहीं था तो बुलाया क्यूं था?


यूपी में 19 जिले रेड, 35 ग्रीन, 20 ऑरेंज

रिपोर्ट धनुष धारी पान्डेय


लखनऊ। केंद्र सरकार की ओर से जारी लिस्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश के 19 जिले रेड जोन में है। ऑरेंज जोन में 35 जिले और ग्रीन जोन में 20 जिले हैं।


रेड जोन के जिले :- आगरा, लखनऊ, सहारनपुर, कानपुर नगर, मुरादाबाद ,फिरोजाबाद, गौतमबुद्धनगर, बुलंदशहर, मेरठ, रायबरेली, वाराणसी, बिजनौर, अमरोहा, संत कबीर नगर, अलीगढ़, मुजफ्फरनगर, रामपुर, मथुरा, बरेली।


ऑरेंज जोन:- गाजियाबाद, हापुड़, बदायूं, बागपत, बस्ती ,शामली, औरैया, सीतापुर, बहराइच, कन्नौज, आजमगढ़, मैनपुरी, श्रावस्ती, बांदा, जौनपुर, एटा, कासगंज, सुल्तानपुर, प्रयागराज, जालौन, मिर्जापुर, इटावा, प्रतापगढ़, गाजीपुर, गोंडा, मऊ, भदोही, उन्नाव, पीलीभीत, बलरामपुर, अयोध्या, गोरखपुर, झांसी, हरदोई, कौशांबी।


ग्रीन जोन:- बाराबंकी, लखीमपुर खीरी, हाथरस, महाराजगंज, शाहजहांपुर, अंबेडकर नगर, बलिया, चंदौली, चित्रकूट, देवरिया, फर्रुखाबाद, फतेहपुर, हमीरपुर, कानपुर देहात, कुशीनगर, ललितपुर, महोबा, सिद्धार्थनगर, सोनभद्र,अमेटी।


ऐतिहासिक 'बैट' को नीलाम करेंगे गिब्स

जोहान्सबर्ग। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज हर्शल गिब्स ने कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जारी जंग में योगदान देने के लिए अपना ऐतिहासिक पारी वाला बल्ला नीलाम करने का फैसला किया है। गिब्स अपने उस ऐतिहासिक बल्ले को नीलाम करेंगे जिससे उन्होंने 2006 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ 175 रनों की विस्फोटक पारी खेली थी। उनकी इस पारी के दम पर दक्षिण अफ्रीका ने आस्ट्रेलिया से मिले रिकॉर्ड 438 रन के लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा किया था और मैच जीता था। 46 साल के गिब्स ने 14 साल पहले 12 मार्च 2006 को रिकॉर्ड पारी खेली थी। दक्षिण अफ्रीका ने उस रोमांचक मैच को एक गेंद शेष रहते एक विकेट से अपने नाम किया था।


गिब्स ने ट्विटर पर कहा, ” सुपरस्पोर्ट उस मैच को दिखा रहा है जिसमें हमने 438 रन बनाकर मैच जीता था। उस मैच में मैंने जिस बल्ले का इस्तेमाल किया था, उसे मैं कोविड-19 फंड के लिए नीलाम करूंगा। उस बल्ले को मैंने इतने सालों तक संभाल कर रखा था।” उस रिकॉर्ड पारी के समय दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम के कोच रहे मिकी आर्थर ने ट्वीट कर गिब्स के इस कदम की सराहना की। आर्थर ने गिब्स के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा, ” बहुत अच्छा काम हर्शल। इसकी प्रशंसा होनी चाहिए।”


कोलन की टीम में 3 संक्रमितो की पुष्टि

बर्लिन। जर्मन लीग (बुन्डेसलीगा) क्लब एफसी कोलन के तीन सदस्य कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं और वे फिलहाल क्वारंटीन में हैं। कोलन की टीम हाल में ग्रुप में ट्रेनिंग पर लौटी थी। कोलन की पूरी टीम और साथ ही उनके कोचिंग स्टाफ की भी इस सप्ताह जांच की गई थी। एफसी कोलन ने अपने वेबसाइट पर एक आधिकारिक बयान में कहा, ” तीन लोग संक्रमित पाए गए हैं। बाकी सभी लक्षण मुक्त हैं। जो तीन लोग संक्रमित पाए गए हैं, वे 14 दिनों तक खुद को क्वारंटीन में रखेंगे। ” बयान में आगे कहा गया है, ” एफसी कोलन, उनके निजता का सम्मान करते हुए किसी के नाम की पुष्टि नहीं करेगा। कोलन का ट्रेनिंग कार्यक्रम तय कार्यक्रम के अनुसारी जारी रह सकता है।”


क्लब के प्रबंध निदेशक हॉर्सट हेल्डट ने कहा कि वे स्टाफ के स्वास्थ्य को प्राथमिकता दे रहे हैं और उन उपायों से खुश हैं जोकि उन्होंने पूरे प्रशिक्षण के दौरान वायरस को फैलने से रोकने के लिए उठाए हैं। कोरोना वायरस के कारण जर्मन फुटबाल लीग 13 मार्च से ही स्थगित है।


सीआरपीएफ के 122 जवान संक्रमित

नई दिल्ली। केंद्रीय केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की पूर्वी दिल्ली में तैनात एक बटालियन के 68 और जवानों का कोरोना वायरस परीक्षण पॉजिटिव आया है। बल के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि सभी जवान पूर्वी दिल्ली में एक बटालियन से जुड़े हैं। इस बटालियन में पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या अब बढ़कर 122 हो गई है।अधिकारी ने बताया की बल में कोरोना मामलों की कुल संख्या 127 हो गई है। एक जवान कोरोना से ठीक हो चुका है जबकि उप निरीक्षक मोहम्मद इकराम हुसैन की कोरोना वायरस से मृत्यु हो गई थी। पचपन वर्षीय हुसैन की कोरोना संक्रमण के कारण मंगलवार को मृत्यु हो गई थी।


अमेरिका में विरोध, सड़क पर उतरे लोग

वाशिंगटन। अमेरिका में अंतराष्ट्रीय श्रमिक दिवस यानी एक मई को अतिरिक्त सुरक्षा उपायों और वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) के कारण लागू लॉकडाउन के बाद राष्ट्रीय अर्थव्यस्था को फिर से खोलने की मांग को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन हुए। सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने दिनभर देशभर में आयोजित प्रदर्शनों में हिस्सा लिया। नेशनल नर्सेज यूनाइटेड (एनएनयू) की 15000 नर्सों ने देश के 13 राज्यों में आयोजित लगभग 140 रैलियों में हिस्सा लिया और प्रशासन से मास्क और अन्य सुरक्षात्मक उपकरण मुहैया कराने की मांग की। एनएनयू की कार्यकारी निदेशक बोनी कैस्टिलो ने ट्विटर पर लिखा, “जब नर्से सुरक्षित नहीं हैं, तो मरीज भी सुरक्षित नहीं हैं।”


उन्होंने कहा कि नर्सें लोगों का उपचार करने के लिए तैयार है, लेकिन कोरोना वायरस की लड़ाई में अग्रिम पंक्ति में खुद को बलिदान करने के लिए नहीं। उन्होंने कहा, “इस श्रमिक आंदोलन और कामकाजी लोगों के जश्न मनाने के दिन नर्सों का संघ को उन सुरक्षा की मांग करने के लिए खड़े हुए हैं जिनकी उन्हें अब आवश्यकता है!”


क्वॉरेंटाइनः 18 को घर भेजने की तैयारी

लालकुआं। अंबेडकर नगर स्थित नए बारात घर में क्वॉरेंटाइन किए गए 18 लोगों को घर भेजने की तैयारी हो गयी है। यूपी के लोगों को उत्तराखंड रोडवेज के माध्यम से उनके घर भेजा गया है। उन्हें पिछले 4 अप्रैल से क्वॉरेंटाइन में रखा गया था। क्वॉरेंटाइन किए गए लोगों में सीतापुर के 5, बरेली के 5, कन्नौज के 5, बदायूं का 1, पिथौरागढ़ का 1 और अल्मोड़ा का 1 व्यक्ति शामिल थे। अन्य चार लोगों को कुछ दिन पहले ही उनके गंतव्य तक भेजा जा चुका है। यूपी के लोगों को यूपी जबकि पिथौरागढ़, अल्मोड़ा के एक-एक व्यक्ति को हल्द्वानी स्टेडियम भेजा गया।


दिल्ली कपासहेड़ा में 41 संक्रमित मिलेंं

नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। कापसहेड़ा की ‘ठेके वाली गली’ में एक ही बिल्डिंग में 41 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। दरअसल, दिल्ली के कापसहेड़ा में एक मकान में 18 अप्रैल को एक कोरोना का मामला सामने आया था। घनी आबादी का इलाका देखते हुए प्रशासन ने 19 अप्रैल को इलाके को सील करने के आदेश दे दिए थे। इसके बाद यहां के 95 लोगों के सैंपल 20 अप्रैल को और 80 लोगों के सैंपल 21 अप्रैल को लिए गए और यह सैम्पल नोएडा की NIB लैब में भेजे गए। कुल मिलाकर 175 लोगों के सैंपल में से 67 लोगों के सैंपल की रिपोर्ट आज आई है। इनमें से 41 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।


चिकित्सा अधिकारी को प्रभाव से निलंबित किया

मनोज सिंह ठाकुर         उज्जैन। मध्यप्रदेश के उज्जैन संभागायुक्त ने टीकाकरण महाअभियान के दौरान अनुपस्थित रहने पर एक चिकित्सा अधिकारी को तत्क...