सोमवार, 8 जून 2020

किस ब्लड ग्रुप में फैल रहा है संक्रमण ?

कविता गर्ग


नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच अलग-अलग देशों में कई रिसर्च हो रही हैं। भारतीय वैज्ञानिक समेत दुनियाभर के शोधकर्ता और विशेषज्ञ कोरोना के लक्षणों, इसकी संरचना, प्रभाव, इलाज, दवा, वैक्सीन आदि को लेकर शोधरत हैं। शुरुआत से ही कई शोधों के आधार पर यह बात बताई जा चुकी है कि कमजोर इम्यूनिटी वालों को कोरोना का ज्यादा खतरा रहता है। इसके अलावा बुजुर्गों या पहले से गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों को संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है। लेकिन क्या कोरोना संक्रमण का ब्लड ग्रुप से भी गहरा संबंध है? बीते मार्च में इसको लेकर चीन के हुबेई प्रांत के झोंगनान अस्पताल में एक रिसर्च स्टडी की गई थी। अब एक बार फिर जर्मनी की कील यूनिवर्सिटी ने इस संबंध में अध्ययन किया है, जिसके परिणाम पूर्व में हुई स्टडी से मिलते हैं।


जर्मनी की कील यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने अध्ययन में बताया है कि किस ब्लड ग्रुप के लोगों को कोरोना संक्रमण का ज्यादा खतरा है और किस ग्रुप के लोगों को इसका कम खतरा है। उन्होंने डीएनए के एक खास हिस्से को कोरोना संक्रमण से जोड़ते हुए अध्ययन किया है। बताया है कि ज्यादा जोखिम वाले ब्लड ग्रुप के मरीजों को सांस लेने में तकलीफ बढ़ सकती है और वेंटिलेटर की भी जरूरत पड़ सकती है।


शोधकर्ताओं का दावा


कील यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का दावा है कि ए ब्लड ग्रुप वाले लोगों को कोरोना संक्रमण का ज्यादा खतरा रहता है। ऐसे लोगों में संक्रमण का स्तर गंभीर हो सकता है और उन्हें वेंटिलेटर तक की जरूरत पड़ सकती है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, अन्य ब्लड ग्रुप वालों की अपेक्षा ए ब्लड ग्रुप वालों को संक्रमित होने का खतरा छह फीसदी तक ज्यादा है।


ए ब्लड गुप वालों को खतरा


शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया है कि ए ब्लड ग्रुप वाले कोरोना पीड़ितों में डीएनए का एक खास हिस्सा ऐसा है, जो ज्यादा जोखिम का कारक हो सकता है। रिसर्च के दौरान इसकी पुष्टि हुई है। इससे पहले चीन के वुहान में हुई रिसर्च स्टडी में भी पता चला था कि जिन लोगों का ब्लड ग्रुप ए है, उन्हें कोरोना के संक्रमण का ज्यादा खतरा है।
वेंटिलेटर की जरूरत


शोधकर्ताओं का कहना है कि ए ब्लड ग्रुप वाले कोरोना मरीजों में 50 फीसदी तक संभावना है कि उन्हें सांस लेने में ज्यादा तकलीफ हो सकती है। उन्हें ऑक्सीजन की ज्यादा जरूरत पड़ सकती है या फिर उन्हें वेंटिलेटर पर भी रखना पड़ सकता है। ब्लड ग्रुप एक ऐसा फैक्टर है, जो कि बुजुर्गों के प्रति युवाओं को कम खतरा होने के समीकरण को प्रभावित करता है।


बड़ी संख्या में युवा भी हो रहे संक्रमित


ब्लड ग्रुप और अन्य कई फैक्टर्स के चलते युवा और स्वस्थ लोग भी कोरोना से संक्रमित हो सकते हैं और उनकी मौत की संभावना भी हो सकती है। चीन में बुजुर्गों की संख्या ज्यादा रही, जबकि अमेरिका में कोरोना के 40 फीसदी मरीज युवा हैं। पिछले कुछ दिनों से कोरोना संक्रमितों में युवाओं की संख्या भी अच्छी खासी है।


अमेरिका में संक्रमण पर भी नजर 


अमेरिकी स्वास्थ्य एजेंसी सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक, पिछले हफ्ते अस्पतालों में भर्ती होने वाले कोरोना के 30 फीसदी मरीजों की उम्र 18 से 49 साल के बीच थी। ए ब्लड ग्रुप वालों में किस उम्र वर्ग के लोग सबसे ज्यादा संक्रमण के रिस्क जोन में हैं, शोधकर्ता इसका पता लगा रहे हैं।


रिसर्च स्टडी में क्या सामने आया?


शोधकर्ताओं ने सांस लेने में ज्यादा तकलीफ वाले इटली और स्पेन के कोरोना पीड़ितों के डीएनए सैंपल लिए। दोनों देशों के ऐसे 1610 मरीजों के जीनोम सिक्वेंस की जांच की गई। शोधकर्ताओं के मुताबिक, इनकी डीएनए रिपोर्ट में एक कॉमन पैटर्न दिखा जो जान का खतरा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार कारक हो सकता है। सामान्य लक्षणों वाले 2205 मरीजों से इनकी डीएनए रिपोर्ट का मिलान करने पर पाया गया कि 1610 मरीजों में डीएनए के दो जीन उनकी नाजुक हालत के जिम्मेदार थे।


किस ब्लड ग्रुप वालों को कम खतरा?


जर्मनी के शोधकर्ताओं का कहना है कि ओ ब्लड ग्रुप वालों में गंभीर संक्रमण का खतरा कम है। वुहान में मार्च में हुए रिसर्च में भी बताया गया था कि ए ब्लड ग्रुप की तुलना में ब्लड ग्रुप ‘ओ’ वाले लोगों को इसके संक्रमण का खतरा कम है। जर्मनी के शोधकर्ताओं के मुताबिक, ब्लड ग्रुप ए वालों में खतरे की वजह इम्यून सिस्टम भी हो सकती है, जो अधिक सक्रिय होने पर फेफड़ों में सूजन बढ़ाता है और दूसरे अंगों को भी इस तरह प्रभावित करता है कि अंग कोरोना से नहीं लड़ पाते।


जर्मनी के शोधकर्ताओं की इस रिसर्च स्टडी के परिणाम जैसे आए हैं, चीन के वुहान में हुई स्टडी के परिणाम भी ऐसे ही आए थे। दोनों शोध इस बात की तस्दीक करते हैं कि ए ब्लड ग्रुप वालों को कोरोना संक्रमण का ज्यादा खतरा है, जबकि ओ ब्लड ग्रुप वालों को संक्रमण का खतरा अपेक्षाकृत कम है।


जिंदगी चलती जाती है 'कहानी'

जिंदगी चलती जाती हैं

 

जब जूलियो 10 साल का था तो उसका बस एक ही सपना था , अपने फेवरेट क्लब रियल मेड्रिड की ओर से फुटबाल खेलना ! वह दिन भर खेलता, प्रैक्टिस करता और धीरे-धीरे वह एक बहुत अच्छा गोलकीपर बन गया। 20 का होते-होते उसके बचपन का सपना हकीकत बनने के करीब पहुँच गया। उसे रियल मेड्रिड की तरफ से फुटबाल खेलने के लिए साइन कर लिया गया।

खेल के धुरंधर जूलियो से बहुत प्रभावित थे और ये मान कर चल रहे थे कि बहुत जल्द वह स्पेन का नंबर 1 गोलकीपर बन जायेगा। 1963 की एक शाम, जूलियो और उसके दोस्त कार से कहीं घूमने निकले। पर दुर्भाग्यवश उस कार का एक भयानक एक्सीडेंट हो गया, और रियल मेड्रिड व स्पेन का नंबर 1 गोलकीपर बनने वाला जूलियो हॉस्पिटल में पड़ा हुआ था , उसके कमर के नीचे का हिस्सा पैरलाइज हो चुका था। 

डॉक्टर्स इस बात को लेकर भी आस्वस्थ नहीं थे कि जूलियो फिर कभी चल पायेगा, फ़ुटबाल खेलना तो दूर की बात थी। वापस ठीक होना बहुत लम्बा और दर्दनाक अनुभव था. जूलियो बिलकुल निराश हो चुका था, वह बार-बार उस घटना को याद करता और क्रोध और मायूसी से भर जाता. अपना दर्द कम करने के लिए वह रात में गाने और कविताएँ लिखने लगा. धीरे-धीरे उसने गिटार पर भी अपना हाथ आजमाना शुरू किया और उसे बजाते हुए अपने लिखे गाने भी गाने लगा।

18 महीने तक बिस्तर पर रहने के बाद , जूलियो अपनी ज़िन्दगी को फिर से सामान्य बनाने लगा। एक्सीडेंट के पांच साल बाद उसने एक सिंगिंग कम्पटीशन में भाग लिया और ” लाइफ गोज ओन द सेम ” गाना गा कर फर्स्ट प्राइज जीता। वह फिर कभी फ़ुटबाल नहीं खेल पाया पर अपने हाथों में गिटार और होंठों पे गाने लिए जूलियो इग्लेसियस संगीत की दुनिया में Top-10  सिंगर्स में शुमार हुआ ,और अब तक उनके 30 करोड़ से अधिक एल्बम बिक चुके हैं।

उपर्युक्त कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती हैं कि हमें परिस्थितियों से घबराना नहीं चाहिए, परिस्थिति चाहे कैसी भी हो, हमे उन्हें अपने अनुकूल बनाकर जिंदगी बितानी चाहिए। हंसती-खेलती जिंदगी में आये संकटों से घबराकर जिंदगी में निराश/हताश न होकर समय व परिस्थिति के अनुरुप अपने आपको एडजस्ट करके जिंदगी जिनी चाहिए।

 

दिल्ली सीएम की तबीयत खराब होगी जांच

नई दिल्‍ली। दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की तबीयत खराब हो गई है। सीएम केजरीवाल रविवार से बुखार और गले में खराश की शिकायत बता रहे हैं। कोरोना के लक्षण जैसी शिकायत के कारण अब उनको कोरोना टेस्ट करवाना होगा। अभी तक मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार को केजरीवाल का कोरोना टेस्‍ट होगा। इधर एहतियात के कारण सीएम की कल दोपहर से सारी मीटिंग कैंसिल कर दी गई है। वहीं, सीएम केजरीवाल ने खुद को आइसोलेट कर लिया है।


दिखे शुरुआती लक्षण


बता दें कि कोरोना के लक्षण में बुखार आना और गले में खराश की शिकायत सबसे पहले लक्षणों में एक है। यही लक्षण केजरीवाल में अभी फिलहाल शुरुआती तौर पर दिख रहे हैं। हालांकि, बीमारी के लक्षण के बाद खुद उन्‍होंने अपने को आइसोलेट कर लिया है। अब कोरोना टेस्‍ट के बाद ही पता चल पाएगा कि यह सामान्‍य बुखार है या कोरोना से जुड़ा है। फिलहाल डॉक्‍टरों की एक टीम उनके स्‍वास्‍थ्‍य का ख्‍याल रख रही है।


जल्‍द लौटेंगे काम पर


दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि मुख्यमंत्री को कल से थोड़ा बुखार और गले में दर्द है। कल दोपहर से उन्होंने अपने आपको आइसोलेट कर रखा है। डॉक्टर ने सलाह दी है कि कल उनका कोरोना टेस्ट होगा।हम सब ईश्वर से प्रार्थना कर रहे हैं कि वे सकुशल रहें और जल्दी से स्वस्थ होकर वापस काम पर लौटेंं।


संजय सिंह ने कहा जल्‍द होंगे ठीक


इधर आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने अरविंद केजरीवाल की तबीयत पर कहा कि उन्‍हें सात जून से कुछ परेशानी हो रही है। डॉक्‍टरों की सलाह पर वे खुद को घर में ही आइसोलेट कर लिए हैं। प्रभु जल्‍द.से.जल्‍द उन्‍हें स्‍वस्‍थ करे, यह प्रार्थना है मेरी।


मनोज तिवारी ने कहा हनुमान जी करेंगे ठीक


भाजपा नेता मनोज तिवारी ने कहा कि मैंने हनुमान जी से केजरीवाल जी को स्वस्थ रखने की प्रार्थना की हैै। वो स्वस्थ रहें और दिल्ली को स्वस्थ रखने में अपनी जो भूमिका है उसका निर्वाह करें। दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवालों का इलाजश् इस तरह इंसानियत को शर्मसार करने वाला निर्णय दिल्ली को नहीं लेना चाहिए था।


कुछ दिनों से चल रहा सीमा विवाद


इधर, बता दें कि कोरोना और सीमा विवाद को लेकर पिछले कुछ दिनों से केजरीवाल सुर्खियों में हैं। दिल्‍ली के बॉर्डर खोलने और कोरोना के बेड को लेकर हो उठ रहे विवाद के बाद केजरीवाल ने रविवार को बड़ा फैसला लिया था, जिसमें यह कहा था कि बाहरी मरीजों का इलाज अब राज्य सरकार के अस्पतालों में नहीं होगा। दिल्ली सरकार के अंतर्गत आने वाले अस्पतालों में अब सिर्फ दिल्ली के लोगों का ही इलाज होगा। केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र वाले अस्पतालों जैसे एम्स समेत अन्य में कोई भी मरीज इलाज करा सकता है। वहीं, सीमा विवाद पर यह तय हुआ था कि दिल्‍ली की सीमा अब हर किसी के लिए खुली रहेगी यह बंद नहीं होगी।


देश की तरक्की का आधार बना 'मनरेगा'

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून, 2005 यानी मनरेगा एक क्रांतिकारी और तर्कसंगत परिवर्तन का जीता जागता उदाहरण है। यह क्रांतिकारी बदलाव का सूचक इसलिए है, क्योंकि इस कानून ने गरीब से गरीब व्यक्ति के हाथों को काम और आर्थिक ताकत दी है। मनरेगा का पैसा सीधे उन लोगों के हाथों में पहुंचता है जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है। विरोधी विचारधारा वाली केंद्र सरकार के छह साल में और उससे पहले भी मनरेगा की उपयोगिता साबित हुई है।


अंतत: मोदी सरकार को मनरेगा के लाभ और सार्थकता को स्वीकारना पड़ा


मोदी सरकार ने इसकी आलोचना की, इसे कमजोर करने की कोशिश की, लेकिन अंत में उसे मनरेगा के लाभ और सार्थकता को स्वीकारना पड़ा। कांग्र्रेस सरकार द्वारा स्थापित की गई सार्वजनिक वितरण प्रणाली के साथ-साथ मनरेगा सबसे गरीब और कमजोर नागरिकों को भूख एवं गरीबी से बचाने के लिए अत्यंत कारगर है। खासतौर से कोरोना महामारी के संकट के दौर में यह और ज्यादा प्रासंगिक है।


मनरेगा कानून एक लंबे जन आंदोलन द्वारा उठाई जा रही मांगों का परिणाम है


मनरेगा कानून एक लंबे जन आंदोलन तथा सिविल सोसायटी द्वारा उठाई जा रही मांगों का परिणाम है। कांग्रेस ने जनता की इस आवाज को सुना और अमली जामा पहनाया। यह हमारे 2004 के चुनावी घोषणापत्र का संकल्प बना। इस योजना के क्रियान्वयन के लिए अधिक से अधिक दबाव डालने वाले हर व्यक्ति को गर्व है कि यूपीए सरकार ने इसे लागू कर दिखाया।


मनरेगा का उद्देश्य गरीबी मिटाना है


इसका सार यही है कि गांवों में रहने वाले किसी भी व्यक्ति को अब काम मांगने का कानूनी अधिकार है। सरकार द्वारा उसे न्यूनतम मजदूरी के साथ कम से कम सौ दिनों तक काम दिए जाने की गारंटी होगी। इसकी उपयोगिता बहुत जल्द साबित भी हुई। यह जमीनी स्तर पर काम का अधिकार देने वाला कार्यक्रम है, जो अपने में अभूतपूर्व है। इसका उद्देश्य गरीबी मिटाना है। मनरेगा की शुरुआत के बाद 15 वर्षों में इस योजना ने लाखों लोगों को भूख और गरीबी के कुचक्र से बाहर निकाला है।


मनरेगा को बंद करना व्यावहारिक नहीं


महात्मा गांधी ने कहा था, ‘‘जब आलोचना किसी आंदोलन को दबाने में विफल हो जाती है तो उस आंदोलन को स्वीकृति और सम्मान मिलना शुरू हो जाता है।’’ उनकी इस बात को साबित करने का मनरेगा से ज्यादा अच्छा उदाहरण और कोई नहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी समझ आया कि मनरेगा को बंद करना व्यावहारिक नहीं। हालांकि उन्होंने आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग कर कांग्रेस पर हमला बोला और इस योजना को ‘कांग्रेस की विफलता का एक जीवित स्मारक’ तक कह डाला।


मोदी सरकार ने मनरेगा को खोखला करने की पूरी कोशिश की


पिछले सालों में मोदी सरकार ने मनरेगा को खत्म एवं खोखला करने की पूरी कोशिश की, लेकिन मनरेगा के सजग प्रहरियों, अदालत और विपक्षी दलों के भारी दबाव के चलते उसे पीछे हटने को मजबूर होना पड़ा। इसके बाद केंद्र ने मनरेगा को स्वच्छ भारत तथा पीएम आवास योजना जैसे कार्यक्रमों से जोड़कर इसका स्वरूप बदलने की कोशिश की, जिसे सुधार कहा गया, लेकिन यह कांग्रेस की योजनाओं का नाम बदलने का प्रयास मात्र था। मनरेगा श्रमिकों को भुगतान में देरी की गई और उन्हें काम तक देने से इन्कार किया गया।


आफतः अंतिम संस्कार के बाद आई रिपोर्ट

मनोज सिंह ठाकुर


मुंबई। देश में कोरोना की मार से सबसे ज्यादा महाराष्ट्र प्रभावित हुआ है। यहां कोरोना संक्रमितों की संख्या 85 हजार के पार पहुंच चुकी है। इस सकंट के बीच एक अस्पताल की बड़ी लापरवाही सामने आई है। अस्पताल की ओर से एक 55 साल के व्यक्ति की डेड बॉडी बिना कोरोना रिपोर्ट देखे ही परिजनों को सौंप दी गई। वहीं, परिजनों ने अंतिम संस्कार कर दिया तो पता चला कि मृतक शख्स की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव है। ऐसे में अब अंतिम संस्कार में शामिल हुए करीब 400 लोगों पर आफत बन आई है। मुंबई के वसई में स्थित The Cardinal Gracious Hospital में अरनाला गांव के रहने वाले 55 साल के व्यक्ति को लीवर की समस्या की वजह से एडमिट कराया गया था। वो 15 दिनों तक अस्पताल में रहे और बीते गुरुवार को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। इसके बाद डेड बॉडी को कोरोना टेस्ट के लिए भेज दिया गया। वहीं, अस्पताल ने बिना रिपोर्ट आए ही परिजनों को डेड बॉडी सौंप दी।


इधर, मृतक व्यक्ति के अंतिम संस्कार में 400 से अधिक लोग शामिल हुए। अगले दिन परिवार के सदस्यों को अस्पताल से फोन आया कि मृतक व्यक्ति की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके बाद अंतिम संस्कार में शामिल होने वाले रिश्तेदारों और पड़ोसियों में दहशत फैल गई। वसई के स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर बालसाहेब जाधव ने कहा कि अंतिम संस्कार के अगले दिन कोरोना रिपोर्ट आई थी। हमने अस्पताल को नोटिस भेजा है। मामले में पूछताछ जारी है। वहीं, अस्पताल की ओर से कहा गया कि मरीज को 15 दिन पहले भर्ती कराया गया था। पहले कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी और कोई लक्षण भी नहीं थे। उनकी मौत लीवर की बीमारी की वजह से हुई है। डेड बॉडी सौंपने से पहले उन्हें वेंटीलेटर और डायलिसिस पर रखा गया था। साथ ही परिजनों को भी कोरोना से जुड़े सभी उचित निर्देश दिए गए थे। शरीर पैक किया गया था. इस वक्त ऐसे आरोप डॉक्टरों और अस्पताल के कर्मचारियों का मनोबल गिराने जैसा है।


हिमाचल: अनियंत्रित वायरस, संक्रमित-413

सोलन। हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के मामलों में अभी भी कमी नहीं आई है। जिला सोलन (District Solan) में फिर से कोरोना के दो नए मामले सामने आए हैं। रविवार को कोविड-19 जांच के लिए केंद्रीय अनुसंधान संस्थान कसौली भेजे गए 148 सैंपल में से 146 नेगेटिव और दो लोगों के सैंपल पॉजिटिव (positive) पाए गए हैं। दोनों के सैंपल बरोटीवाला क्वारंटाइन सेंटर (Quarantine Center Barotiwala ) से लिए गए थे।


संक्रमितों में एक व्यक्ति नालागढ़ से है और हावड़ा, कोलकाता (Calcutta) से आया था, जबकि दूसरा उत्तराखंड (Uttrakhand) से है और बरमाणा स्थित सीमेंट कंपनी में कार्य करता है। दोनों दिल्ली से ट्रेन में सफर कर हिमाचल पहुंचे। जिला स्वास्थ्य अधिकारी सोलन डॉ. एनके गुप्ता ने इसकी पुष्टि की है। इसी के साथ सोलन जिला में अब कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 34 पहुंच गया है, जबकि 18 एक्टिव मामले हैं। वहीं हिमाचल में अब कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 413 हो गई है इनमें से 185 एक्टिव केस हैं जबकि 223 स्वस्थ हो गए हैं। प्रदेश में अब तक पांच लोगों की मौत हुई है।


एसएसपी ने कचहरी का निरीक्षण किया

एसएसपी ने किया कचहरी परिसर का निरीक्षण, अधिवक्ताओं को नियमों का पालन करने का दिया निर्देश

वाराणसी। जिला जज उमेश चंद्र शर्मा द्वारा 8 जून से सभी अदालतों में न्यायिक कार्य संपादित करने के आदेश के बाद सोमवार को एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने कचहरी परिसर में भ्रमण कर न्यायालय की व्यवस्थाओं का हाल जाना। इस दौरान उन्होंने नवसृजित न्यायालय सुरक्षा चौकी का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान एसएसपी ने न्यायालय सुरक्षा चौकी में रँगाई पुताई आदि के लिये आवश्यक धनराशि उपलब्ध कराने का सम्बंधित अफसरों को निर्देश भी दिया। वहीं कचहरी परिसर में निर्धारित दिशा निर्देशों के अनुरूप कामकाज हो सके इसके लिये मातहतों वादकारी/अधिवक्ता को भी दिशा-निर्देश पालन करने का आग्रह किया। बता दें कि न्यायिक अधिकारियों तथा बार पदाधिकारियों की बैठक में निर्णय लिया गया है कि ट संख्या एक से न्यायिक अधिकारी, कर्मचारी तथा गेट पांच से अधिवक्ता व वादकारी थर्मल स्कैनिंग के बाद मास्क लगाकर ही कचहरी परिसर में प्रवेश पाएंगे।

अधिवक्ता वादकारी समेत चार से ज्यादा कीअदालत कक्ष में रहने की अनुमति नहीं होगी। दफ्तर संबंधित प्रार्थना पत्र व अऩ्य दस्तावेजों को न्यायालय कक्ष में रीडर अथवा कर्मचारी को दोपहर 12 बजे से पहले देना होगा जबकि जमानतनामा तथा बंधपत्र दोपहर 3.30 से चार बजे के बीज उपलब्ध करना होगा।

गधे पर जुआ खेलने का मामला दर्ज

क्या आपने कभी किसी गधे को जुआ खेलते हुए देखा या सुना है। आपका जवाब होगा नहीं, जानवर कैसे जुआ खेल सकते हैं ? लेकिन पाकिस्तान में ऐसा नहीं है। वहां एक गधे को जुआ खेलने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।


रहीम यार। यह जानकर आप को थोड़ा अजीब जरूर लग रहा होगा लेकिन यह पूरी तरह सच है। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के रहीम यार खान इलाके में पुलिस ने सात-आठ लोगों के अलावा एक गधे को भी जुआ खेलने के आरोप में गिरफ्तार किया है। दिलचस्प ये है कि एफआईआर में भी गधे का नाम दर्ज है। वहीं गधे की गिरफ्तारी को लेकर रहीम यार खान इलाके के एसएचओ ने कहा कि संदिग्धों के अलावा गधे का नाम भी एफआईआर में दर्ज है और उसे भी थाने के बाहर बांध कर रखा गया है।


पुलिस ने बताया कि उन्होंने जुआ खेलने वाले आरोपियों से 1 लाख 20 हजार रुपये भी बरामद किए हैं और ये लोग गधों की दौड़ पर पैसा लगा रहे थे। गधे की गिरफ्तारी की खबर जैसे ही लोगों को मिली उन्होंने सोशल मीडिया पर पुलिस को ट्रोल करना शुरू कर दिया। लोग पुलिस की इस कार्रवाई का मजाक उड़ा रहे हैं। बता दें कि पाकिस्तान में सबसे ज्यादा गधे पाए जाते हैं और वो इसे दूसरे देशों में निर्यात भी करता है।


शिवपाल ने अखिलेश से कहा, 'धन्यवाद'

लखनऊ। कहा जाता है राजनीति में कुछ भी संभव है। ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है चाचा शिवपाल यादव और अखिलेश यादव के बीच। दोनों काफी समय से एक दूसरे से दूर है। शिवपाल यादव ने अखिलेश से किनारा कर अपनी नई पार्टी बनाकर सपा को चुनौती दी थी लेकिन उनकी चुनौती राजनीति पटल कुछ खास असरदार साबित नहीं हुई है।


हालांकि चुनावी दंगल में चाचा शिवपाल यादव ने सपा को वोट काटकर मुलायम की पार्टी को नुकसान जरूर पहुंचाया। सपा के कुनबे में दरार की वजह से अखिलेश दोबारा यूपी के सीएम नहीं बन सके।


उत्तराखंडः संक्रमण के विपरीत रिकवरी बेहतर

देहरादून। प्रदेश में कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच स्वस्थ होकर घर लौटने वालों की संख्या बढ़ने की अच्छी खबरें भी आने लगी हैं। उत्तराखंड में सोमवार दोपहर तक कोरोना संक्रमण के 25 नए केेस सामने आए हैं। जिसके बाद अब राज्य में मरीजों की संख्या 1380 हो गई है। वहीं अब तक 663 मरीज ठीक को चुके हैं।


आज बागेश्वर, चंपावत व रुद्रप्रयाग में दो, चमोली, देहरादून, नैनीताल व ऊधमसिंह नगर में एक, पौड़ी में चार, टिहरी में तीन और हरिद्वार में आठ संक्रमित मिले हैं। हरिद्वार में मिले केवल एक संक्रमित को छोड़कर बाकी सभी प्रवासी उत्तराखंडी हैं। आज दोपहर जारी हुए हेल्थ बुलेटिन में यह जानकारी दी गई है।


छत्तीसगढ़ में भी बढ़ रहा है संक्रमण

रायपुर। छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य विभाग ने मेडिकल बुलेटिन जारी किया है, जिसमें छत्तीसगढ़ में 31 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि की गई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार देर रात 20 नए मरीज मिले थे, जिनमें बलौदाबाजार में 7, रायपुर में 5, कोरबा में 3, और कोरिया-जांजगीर में 2-2 मरीज मिले थे। वहीं बिलासपुर में भी एक मरीज मिला था।


इसके बाद आज 11 नए मरीज मिले हैं जिनमें कांकेर में 5 मरीज, बेमेतरा में 3 और कोरिया में 3 मरीजों की पुष्टि हुई है। इन मरीजों के बाद अब छत्तीसगढ़ में एक्टिव मरीजों की संख्या 834 हो गई हैप्रदेश में कुल संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1104 हो गया है। जिनमें 266 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किए जा चुके हैं। वहीं 4 लोगों की मौत हो चुकी है।
आज 11 नए कोरोना पाज़िटिव मरीज़ों की पहचान की गई (जिला कांकेर से 5, बेमेतरा व कोरिया से 3-3,)। कुल एक्टिव मरीज़ों की संख्या 834 है।


झारखंड में नए 73 मामले संक्रमित 1103

झारखंड। कोरोना वायरस के 73 नए मामले सामने आए हैं। इसको मिलाकर राज्य में कोरोना के मामलों की संख्या बढ़कर 1,103 हो गई है।आंकड़ों के अनुसार, कुल मामलों में 490 मरीज ठीक हो चुके हैं, वहीं सात मरीजों की यहां मौत हो चुकी है।देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 9,983 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 206 लोगों की कोरोना वायरस के कारण मौत हो चुकी है।स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में अब तक कुल 2,56,611 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं कोरोना से मौत का आंकड़ा भी बढ़कर 7,135 तक पहुंच गया है। देश में फिलहाल 1,25,381 एक्टिल केस हैं, वहीं 1,24,095 मरीज ठीक हो चुके हैं।


दोपहर के बाद दिल्ली-एनसीआर में भूकंप

नई दिल्ली। दिल्ली तथा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में आज दोपहर बाद भूकंप के हल्के झटके महसूस किये गये। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के अनुसार, भूकंप का केंद्र हरियाणा में गुरुग्राम जिले के दौराला में दिल्ली सीमा के पास था।


दोपहर बाद एक बजे आये भूकंप का केंद्र 28.7 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 76.7 डिग्री पूर्वी देशांतर पर जमीन की सतह से 18 किलोमीटर की गहराई पर था। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 2.1 मापी गई। दिल्ली-एनसीआर में पिछले कुछ समय से भूकंप के हल्के और मध्ययम झटके आ रहे हैं। आज आये भूकंप से जानमाल के नुकसान की अब तक कोई खबर नहीं है।


सरकारः पीआईबी के महानिदेशक संक्रमित

पीआईबी के प्रधान महानिदेशक निकले पॉजिटिव, गडकरी समेत सरकार के कई मंत्रियों पर मंडराया खतरा



अकाशुं उपाध्याय

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) के प्रधान महानिदेशक केएस धतवालिया को भी कोरोना संक्रमित पाया गया है। सूत्रों ने रविवार को बताया कि कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाए जाने के बाद धतवालिया को एम्स में भर्ती कराया गया है। हालांकि उनके संक्रमण की चपेट में आने के कारणों की जानकारी नहीं मिल सकी है। पीआईबी के प्रधान महानिदेशक के संक्रमित पाए जाने से नितिन गडकरी समेत केंद्र सरकार के कई मंत्रियों पर भी क्वारंटीन होने का खतरा मंडरा गया है।दरअसल धतवालिया पीआईबी के मुखिया होने के कारण केंद्र सरकार के प्रधान प्रवक्ता भी हैं। इस हैसियत से उन्होंने सोमवार और बुधवार को नितिन गडकरी, नरेंद्र सिंह तोमर और प्रकाश जावडेकर के साथ मंच शेयर किए थे। दोनों ही मौकों पर वे कैबिनेट बैठक के बाद निर्णयों की जानकारी मीडिया को देने के लिए आयोजित कांफ्रेंस में इन मंत्रियों के साथ मंच पर मौजूद थे।हालांकि देर रात तक इस बात की जानकारी नहीं मिल सकी थी कि दोनों मंत्रियों को भी क्वारंटीन होने के निर्देश दिए गए हैं या नहीं। न ही इस बात की जानकारी मिली थी कि उनके भी कोरोना टेस्ट कराए जा रहे हैं या नहीं। इसके अलावा नेशनल मीडिया सेंटर में आयोजित इन प्रेस कांफ्रेंसों में कई पत्रकार भी उपस्थित रहे थे, लेकिन उनके स्टेज से दूर बैठे होने के कारण संक्रमित होने की संभावना बेहद कम मानी जा रही है।


डिस्टेंस का पालन करते हुए, डीएम की मीटिंग

कुशीनगर। जिलाधिकारी महोदय व श्रीमान् पुलिस अधीक्षक महोदय कुशीनगर श्री विनोद कुमार मिश्र की उपस्थिति में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के दृष्टिगत दिनांक 08.06.2020 से खुलने वाले धार्मिक/पूजा स्थलों के संबंध में सभी धर्मों के धर्मगुरुओं  के साथ मॉस्क धारण कर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मीटिंग की गई। जिसमें भारत सरकार द्वारा इस संबंध में जारी किये गए दिशा निर्देशों के बारे में विस्तार से बताया गया एवं  धार्मिक/पूजा स्थलों के प्रवेश द्वार पर हाथों को कीटाणु रहित करने हेतु सैनिटाइजर का प्रयोग किया जाए एवं यथासंभव इंफ्रारेड थर्मामीटर की भी व्यवस्था की जाए, सभी प्रवेश करने वाले लोग फेस कवर/ मॉस्क अवश्य पहने हुए हो, सोशल डिस्टेंसिंग का पूर्णतया पालन किया जाए तथा धार्मिक/पूजा स्थलों पर माइक द्वारा श्रद्धालुओं को थोड़े थोड़े समूह में प्रवेश करने व अनावश्यक रूप से भीड़-भाड़ ना लगने हेतु अपील की जाए । धार्मिक/पूजा स्थलों हेतु लाइन में लगे श्रद्धालुओं के बीच की दूरी कम से कम 6 फीट की होनी चाहिए, धार्मिक/पूजा स्थलों में  प्रतिरूप/मूर्तियों/पवित्र ग्रंथों आदि को किसी भी श्रद्धालुओं को स्पर्श ना करने दिया जाए, धार्मिक स्थल  परिसर के अंदर व बाहर साफ सफाई रखी जाए तथा लोगो को कोरोना वायरस के सम्बन्ध में जागरूक करने हेतु धार्मिक/पूजा स्थलों के बाहर पोस्ट चस्पा की जाए ।  इसके साथ ही साथ यह भी बताया गया कि यदि किसी के द्वारा उपरोक्त बताए गए नियमों का उल्लंघन किया जाता है तो उसके खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्यवाही की जाएगी। उक्त मीटिंग में उपजिलाधिकारी महोदय हाटा, क्षेत्राधिकारी महोदय कसया व अन्य अधिकारी/कर्मचारीगण मौजूद रहे ।


वर्चुअल रैली, आगामी विधानसभा पर निशाना

नई दिल्ली। बिहार में भाजपा ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की वर्चुअल रैली से आगामी विधानसभा चुनाव के लिए शंखनाद कर दिया। अमित शाह ने रविवार की शाम में देश की पहली वर्चुअल रैली को संबोधित किया। इस रैली को लेकर विपक्षी दलों और कई शख्सियतों ने अमित शाह पर निशाना साधा। फेमस एक्टर प्रकाश राज ने ट्वीट कर बिहार और गुजरात की मौजूदा राजनैतिक स्थिति को लेकर तंज कसा है।


प्रकाश राज ने सोमवार को ट्वीट कर लिखा कि, प्रवासी पैदल चल सकते हैं। मध्यवर्ग शांति से मर सकता है। अर्थव्यवस्था चौपट हो सकती है, लेकिन राजनैतिक दलों ने बिहार में अपना चुनाव प्रचार शुरू कर दिया गया है। जबकि गुजरात में विधायकों को रिसॉर्ट में शिफ्ट किया जा रहा है। जो चीज वे अच्छे से कर सकते हैं, वे कर रहे हैं। उनका यह ट्वीट सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। सोनू सूद की तरह प्रकाश राज भी लॉकडाउन के चलते फंसे प्रवासी मजदूरों की अपने फाउंडेशन के तहत लगातार मदद कर रहे हैं। प्रकाश राज लगातार मजदूरों को घर पहुंचाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने लोगों से भी अपील कि वे अपने किसी करीबी के पास पहंचने की कोशिश करें और उन्हें जिंदगी देने में मदद करें। इससे पहले लॉकडाउन के चलते फंसे लगभग 50 मजदूरों को उन्होंने अपने फार्म हाउस में रुकने की जगह दी थी।


बता दें कि कोरोना से जंग के बीच बिहार में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने रविवार को एक तरह से बिगुल फूंक दिया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह वर्चुअल रैली वीडियो कॉन्फेंसिंग से राज्य की जनता को संबोधित किया। देश की राजनीतिक इतिहास में यह पहली वर्चुअल रैली थी। वहीं दूसरी ओर गुजरात में 19 जून को होने वाले राज्यसभा चुनाव से पहले ही सियासी हलचल तेज हो गई है। तीन विधायकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस पार्टी पूरी तरह सतर्कता बरत रही है। रविवार को गुजरात कांग्रेस ने अपने 19 विधायकों को राजस्थान के एक रिसॉर्ट में रहने के लिए भेज दिया है।


मठ-मंदिरों के आज खुल गए हैं द्वार

रामनगरी मे आज से खुल रहे मठ मंदिर

अयोध्या। श्रद्धालु नए नियमों को फालो कर करेंगे दर्शन । आज यानि 8 जून से सभी मंदिर मस्जिद चर्च और गुरुद्वारों के कपाट खुल जाएंगे, जाहिर है कि लोग अपने अपने आराध्यों का दर्शन करने भी जाएंगे । किन्तु  दर्शन करने के लिए  जिलाधिकारी अनुज झा ने एडवाइजरी जारी की है जिससे न कि सिर्फ दर्शन करने मे सुविधा मिलेगी बल्कि कोरोना जैसी गंभीर बीमारी से बचा भी जा सकता है । जिलाधिकारी  द्वारा फेस मास्क , सोशल डिस्टेंसिंग , सेनेटाईजिंग अनिवार्य  किया है जिसका बखूबी पालन कराने के लिए पर्याप्त मात्रा मे पुलिस की तैनाती भी की गई है । खुद पुलिस कप्तान आशीष तिवारी ने  देर रात तक पूरे जिले मे पुलिस अफसरों को वीडियो कांफ्रेंसिंग और सेट मीटिंग मे आवश्यक दिशा निर्देश देते नजर आए । प्रशासन द्वारा जारी नियमों का पालन करें, कोरोना का खतरा  बिल्कुल भी टला नही, आवश्यक होने पर सावधानी पूर्वक ही अपने घरों से निकले।ढाई महीने बाद खुला भगवान श्रीराम की कुलदेवी देवकाली मंदिर। सोशल डिस्टेंसिंग के बीच भक्त कर रहे मां देवकाली का दर्शन पूजा। ढाई महीने बाद खुला भगवान श्रीराम की कुलदेवी देवकाली मंदिर। सोशल डिस्टेंसिंग के बीच भक्त कर रहे मां देवकाली का दर्शन पूजन।मंदिर पर सुरक्षा बल तैनात।सभी की हो रही थर्मल स्कैनिंग। केवल 5 श्रद्धालुओं को ही मंदिर में प्रवेश की अनुमति।मंदिर के बाहर रखा गया सेनेटाइजर। श्रद्धालुओं को मास्क लगाना अनिवार्य। नवरात्र में भी भक्त नहीं कर पाए थे माँ देवकाली का पूजन अर्चन।आज सोमवार है।देवकाली मंदिर में भक्तों का लगा ताँता।

सुनील मिश्रा

बिहार में इस समय कमजोर मुख्यमंत्रीः लालू

पटना। बिहार में इस साल के अंत में होने वाले चुनाव को देखते हुए अब राजनीतिक दलों के बीच सियासी वार-पलटवार तेज होने लगी है। इस कड़ी में सोमवार को राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने अपने खास अंदाज में एक पहेली बुझाकर और किसी का नाम लिए बिना नीतीश कुमार पर निशाना साधा।


पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के ट्विटर हैंडल से लिखा गया, “बूझो तो जानें? किस प्रदेश का डरपोक मुख्यमंत्री विगत 83 दिन से घर से बाहर नहीं निकला है? कोरोना भले ना भागे लेकिन ई मुख्यमंत्री जनता के बीच मझधार में छोड़ के भाग  ई रणछोर के हिसाब-किताब आवे वाला चुनाव में सब लोग मिल-जुल कर राहत ”उल्लेखनीय है कि लालू प्रसाद के ट्विटर हैंडल से लगातार मुख्यमंत्री नीतीश और उनकी सरकार को निशाना बनाया जा रहा है। लालू प्रसाद इन दिनों चारा घोटाले के कई मामलों में सजा काट रहे हैं। फिलहाल स्वास्थ्य कारणों से वह रांची के एक अस्पताल में भर्ती हैं।


गर्भ में पल रहे मासूम की हत्या से हताशा

मल्लपुरम। एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार साहू कोषाध्यक्ष बलराम हालदार के नेतृत्व में संस्था के माध्यम से संस्था पदाधिकारियों ने केरल के मल्लपुरम की मृतक गर्भवती हथिनी और उसके गर्भ में पल रहे मृतक मासूम बच्चे को कैंडल जलाकर श्रद्धांजलि देकर भूखी प्यासी हथिनी को बारूद से भरा अन्नानास खिलाकर हत्या करने वाले हत्यारों को तुरन्त फांसी देने की माँग की गई।

इस दौरान एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार साहू सदस्य रितिक साहू ने संयुक्त रूप से कहा की हमारे भारत में आज भी कई देशद्रोही कुकर्मी अत्याचारी है जो मानवता की भावना नही रखते है। दूसरों का हित करना तो दूर वो सिर्फ दूसरों लोगों का अहित करने की सोचते है इसी सोच के चलते केरल के मल्लपुरम साइलेंट वैली जंगल में भूखी प्यासी गर्भवती हथिनी को आतंकवादी सोच के लोगों ने बारूद से भरा अन्नानास खिलाकर गर्भवती हथिनी और हथिनी के गर्भ में पल रहे मासूम बच्चे की निर्मम हत्या कर दी। जबकि मादा हाथी 4 साल में एक बार गर्भ धारण करती है और एक बार में एक ही बच्चे को जन्म देती है। जिनके गर्भावस्था का समय लगभग 22 महीने का होता है और हाथी का जीवनकाल लगभग सौ वर्ष से भी अधिक होता है लेकिन प्रदूषण और जंगलों की कटाई के कारण इनकी उम्र कम होती जा रही है। फिर भी स्वभाव में चंचल और शांत रहते हैं और किसी भी मनुष्य को कोई नुकसान नहीं पहुँचाते हैं यादि फिर भी कुछ देशद्रोही आतंकवादी सोच के लोग इस तरह से मानवता को नुकसान पहुँचाते हैं तो हम सबकी मानवता का यह कर्तव्य हैं की ऐसे आतंकवादी सोच के लोगों को सरकार से कठोर से कठोर कार्रवाई करा कर मानवता को बचाऐ रखें नहीं तो हम सब सिर्फ मानवता का मुखड़ा लेकर बैठे रहेंगे और देशद्रोही आतंकवादी सोच के लोग इसी तरह से अपना आतंक फैलाते रहेंगे। क्योंकि ऐसी घटनाओं से विश्व के मानचित्र में भारत की छवि धूमिल हो रही है और जो लोग भारत की छवि धूमिल करते हैं वह कभी भी भारत के नागरिक नहीं हो सकते हैं वह निश्चित रूप से देशद्रोही और आतंकवादी सोच के लोग होते हैं जिनके लिए भारत की पावन पवित्र भूमि पर एक इंच भी जगह नहीं हैं। इसलिए केरल सरकार हथिनी और हथिनी के बच्चे के हथियारों को तुरन्त फांसी देकर मानवता के साथ न्याय करने की कृपा करें।

इस दौरान मृतक हथिनी और हथिनी के बच्चे को श्रद्धांजलि देने में संस्था उपाध्यक्ष लोकेश कुमार साहू कोषाध्यक्ष बलराम हालदार सूरज मिस्त्री अभिषेक साहू गोविन्द मिस्त्री रितिक साहू सूरज कुम्हार मुकेश कुमार दीपक प्रजापति आदि लोग उपस्थित रहे।

राजस्थानः 262 नए संक्रमित, 9 की मौत

राजस्थान में मिले कोविड-19 के 262 नए रोगी, 9 मरीजों ने दम भी तोड़ा
उदयपुर में 587 संक्रमितों में से 515 की हो चुकी है रिकवरी


जयपुर। प्रदेश में रविवार को काेराेना के 262 नए राेगी सामने आए। इसके अलावा 9 संक्रमिताें ने दम भी ताेड़ा। जयपुर में 6, बारां व सवाईमाधाेपुर में एक-एक और एक बाहरी राज्य के व्यक्ति ने दम ताेड़ा। एपि सेंटर बने भरतपुर व जाेधपुर में काेराेना का काेहराम जारी है।


जाेधपुर में एक ही दिन में 81 ताे भरतपुर में 63 नए मरीज मिले। उदयपुर में रविवार को सिर्फ एक नया केस सामने आया, यहांं  अब तक सामने आए 587 संक्रमितों में से 515 रिकवर हो चुके हैं । जयपुर में 38, सीकर में 11, नागौर में 9, काेटा व टोंक में 6-6,  पाली में 4, झुंझुनूं व धौलपुर में 3-3, अजमेर में 2, झालावाड़ में एक नया संक्रमित मिला। प्रदेश में कुल राेगियाें की संख्या अब 10599 हो गई है, जबकि 240 लाेगाें की माैत हाे चुकी है। हालांकि, रविवार काे 253 लोग ठीक भी हुए। इन्हें मिलाकर प्रदेश में अब तक 7754 लोग ठीक हो चुके हैं। इनमें से 7390 लोगों को डिस्चार्ज भी किया जा चुका है। अब प्रदेश में 2605 एक्टिव मरीज हैं।


प्रदेश में अन्य राज्यों से आए प्रवासियों के पॉजिटिव मिलने का आंकड़ा भी लगातार बढ़ता जा रहा है। अब तक कुल 3040 प्रवासी पॉजीटिव मिल चुके हैं। इनमें सबसे ज्यादा 397 पाली से हैं। इसके बाद दूसरे नंबर पर डूंगरपुर है, जहां 331 प्रवासी पॉजिटिव मिल चुके हैं। प्रदेश में जांचें भी 5 लाख का आंकड़ा पार कर गई हैं। उधर, जापान व जर्मनी जैसे देशाें में भी आयुर्वेद की दवा लेने वाले लोग कम नहीं हैं। कोरोना के दौर में इन दोनों देशों ने जोधपुर से आयुर्वेद की 22 लाख टेबलेट मंगवाकर उपयोग में ली हैं। यहां की एक कंपनी ने न केवल दवा, बल्कि एयरकार्गों का खर्च करीब 75 लाख रुपए वहन कर वहां के लोगों को यह निशुल्क सुविधा उपलब्ध कराई।


महाराष्ट्रः फिर रिकॉर्ड 3 हजार संक्रमित

महाराष्ट्र में रविवार को 15 दिन में दूसरी बार रिकॉर्ड 3 हजार से ज्यादा मरीज बढ़ गए


देश में कोरोना संंक्रमण से 7207 मौतें, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 3060 की जान गई
महाराष्ट्र में रविवार को 15 दिन में दूसरी बार रिकॉर्ड 3 हजार से ज्यादा मरीज बढ़ गए
तमिलनाडु में 31 हजार से ज्यादा मरीज, 86% मरीजों में कोरोना के लक्षण नहीं मिले


नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2 लाख 57 हजार 390 हो गई है। रविवार को दूसरे दिन भी 10 हजार से ज्यादा रिपोर्ट पॉजिटिव आईं। पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा 10 हजार 768 मरीज बढ़े।शनिवार को 10 हजार 428 पॉजिटिव मिले थे। महाराष्ट्र में भी 15 दिन में दूसरी बार रिकॉर्ड 3 हजार से ज्यादा नए संक्रमित बढ़ गए। राज्य में संक्रमितों की संख्या 85 हजार के पार हो गई है। जबकि कोरोना से अब तक 3060 लोगों ने जान गंवाई। उधर, दिल्ली में पीआईबी अधिकारी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, नेशनल मीडिया सेंटर सैनिटाइजेशन के लिए सोमवार को बंद रहेगा।


उद्धव सरकार ने महाराष्ट्र की 60 जेलों में बंद 11 हजार कैदियों को इमरजेंसी पेरोल पर छोड़ने का फैसला लिया। 9671 कैदी पहले छोड़े गए थे। गृह मंत्री अनिल देशमुख ने बताया कि राज्य की जेलों में 38 हजार कैदी हैं। सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए इनमें से 20 हजार बाहर निकाले गए।


तमिलनाडु के 86% मरीजों में कोरोना के लक्षण नहीं


तमिलनाडु मरीजों के मामले में दूसरे स्थान पर है। यहां 31 हजार से ज्यादा पॉजिटिव मिल चुके हैं। एक हफ्ते से रोजाना एक से डेढ़ हजार मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है। रविवार को रिकॉर्ड 1515 मरीज मिले। मुख्यमंत्री पलानीसामी ने बताया कि तमिलनाडु के कुल संक्रमितों में से 86% में कोरोना के कोई लक्षण नजर नहीं आए। 4 जून तक 5.50 लाख टेस्ट किए गए। राज्य में मरीजों का रिकवरी रेट देश में सबसे ज्यादा है और मुत्युदर कई देशों से कम है।


केरल में कन्वेंशन सेंटर को अस्पताल बनाया


लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी के मद्देनजर केरल के कोच्चि में प्रशासन ने तैयारियां तेज कर दी हैं। शहर में इंटरनेशनल कन्वेंशन एंड एक्जीबिशन सेंटर को 200 बिस्तरों की क्षमता वाले कोविड केयर सेंटर में तब्दील किया गया है। कोच्चि के अंगमली में स्थित अस्पताल में कोविड-19 के मरीजों के हिसाब से बिस्तरों का अरेंजमेंट किया गया है। अगले हफ्ते से यहां मरीजों का इलाज शुरू हो जाएगा।


नए 10 संक्रमितो के साथ कुल मरीज-474

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। एक ही दिन में नए 10 संक्रमितो के जुड जाने से जनपद में 474  संक्रमित हो चुके हैं। वहींं साहिबाबाद क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले थाना टीला मोड़ क्षेत्र भोपुरा गगन विहार गली नंबर 10 में दो कोरोना प्रोजेक्ट पाए गए हैं। जिसमें से एक महिला व एक पुरुष है। मिली जानकारी के अनुसार यह दोनों आपस में रिश्तेदार बताएं जा रहे है और कुछ दिन पहले जो लड़का पॉजिटिव पाया गया है उस को देखने यह महिला उसके घर पर गई थी। उसके बाद महिला को भी बुखार की शिकायत हो गई तो इन्होंने करीबन एक हफ्ते पहले चेकअप कराया तो रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। मौके पर पहुंची पुलिस वह डॉक्टर की टीम दोनों ही लोगों को हॉस्पिटल ले गई और उनके परिवार वालों का भी चेकअप कराया जा रहा है। जिनमें से एक महिला की उम्र 54 वर्ष है और वह गगन विहार मेन 25 फुटा रोड पर बने एक फ्लैट मे किराए पर रहती है। वही एक लड़के गली नंबर 10 बी ब्लॉक मे रहता है जिसकी उम्र 27 वर्ष बताई जा रही है।


प्रेम-प्रसंग में युगल की पीट-पीटकर हत्या

धौलपुर। जिले के राजाखेडा थाना क्षेत्र के कसियापुरा गांव में प्रेम प्रसंग को लेकर एक युवक और युवती की बेरहमी से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। पुलिस के अनुसार युवक और युवती दोनों एक ही परिवार के थे और रिश्ते में बुआ-भतिजे थे। प्रेम प्रसंग को लेकर लड़की के परिवार को बर्दाश्त नहीं हुई। शनिवार दोपहर बाद लड़की के परिजनों ने कुल्हाड़ी, सरियों, डंडों से दोनों की बुरी तरह मार-पीटकर दी, जिससे मौके पर ही मौत हो गई। लड़की का उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा गया जहां रास्ते में ही दम तोड़ दिया। घटना की गंभीरता देख विधायक रोहित बोहरा भी पुलिस अधीक्षक के साथ गांव पहुंच गए। कुछ देर बाद जिला कलेक्टर राकेश जायसवाल, एसडीएम संतोष गोयल, पुलिस उपाधीक्षक मनिया वासुदेव भी मौके पर पहुंच गए और मामले की छानबीन आरम्भ हो गई। घटना के बाद लड़की के परिजन फरार हो गए हैं।


बस्ती में सीएम योगी का औचक निरीक्षण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बस्ती में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों का किया समीक्षा समीक्षा के बाद जिला अस्पताल का किया निरीक्षण


बस्ती। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आकस्मिक बस्ती जिले में 1:55 पर हेलीकॉप्टर के द्वारा पुलिस लाइन में पहुंचकर अधिकारियों के साथ विकास कार्यों का समीक्षा की और बस्ती जिले के जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक किए वहीं मुख्यमंत्री ने प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने के लिए अधिकारियों को निर्देशित भी किया। बस्ती जिले के जिला अस्पताल में कोरोना जांच की नई मशीन ट्रू नाट का उद्घाटन और इमरजेंसी वार्ड में भर्ती मरीजों का हालचाल जाना। मुख्यमंत्री इससे पहले पुलिस लाइन स्थित सभागार में जिले के जनप्रतिनिधियों से बातचीत कर विकास कार्यों की जानकारी ली। जिला अस्पताल के दौरे के पश्चात अधिकारियों के साथ समीक्षा आपको बता दें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बस्ती दौरे का कार्यक्रम तय नहीं था आकस्मिक मुख्यमंत्री का कार्यक्रम तय हुआ।


जय प्रकाश यादव


मेरठः पुलिस-बदमाशों के बीच मुठभेड़

मेरठ। संपूर्ण देश में महामारी के चलते लॉक डाउन किया गया। जिसमें ज्यादातर लोग अपने घरों में कैद हो गए। लेकिन अपराध जगत से जुड़े लोग ज्यादा दिन कैद नहीं रह पाए और अपराधी प्रवृत्तियों में संलिप्त हो गए। जिसके चलते मेरठ पुलिस और बदमाशों की मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में एक बदमाश के पैर में लगी गोली, गोवध और अन्य कई मुकदमों में चल रहा था वांछित घायल बदमाश, अंधेरे का फायदा उठाकर एक बदमाश भागने में कामयाब,पुलिस  चेकिंग के दौरान हुई मुठभेड़ ,घायल बदमाश के पास से एक तमंचा कारतूस और मोटरसाइकिल बरामद मेरठ के इंचोली थाना क्षेत्र के खरदोनी गांव के जंगल में हुई मुठभेड़।


गरीबों को नहीं मिला मजदूरी का पैसा

गरीब मज़दूर हुए बेसहारा नही मिल सका मज़दूरी का पैसा

योगी सरकार को बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है ग्राम पंचायत तियरा जमालपुर के रोजगार सेवक

करारी कौशाम्बी। भारत सरकार तथा प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण के चलते श्रमिकों को काम की तलाश में भटकना न पड़े इसके लिए मनरेगा के तहत रोजगार उपलब्ध कराए जाने के निर्देश दिए हैं।लेकिन मंझनपुर बिकास खण्ड के तियरा जमालपुर में योजना लागू होती नही दिख रही है।

वहीं ग्राम पंचायत तियरा जमालपुर के ग्राम मोअज्जमपुर में रोजगार सेवक अपनी मनमानी करता रहता है। रोजगार सेवक श्रमिकों को काम नही देता है तथा दो या तीन वर्ष में 4-5 दिन ही काम लगाता है तो उनको उनकी मजदूरी भी नहीं लगाता है।

जब कि देश की सरकार मनरेगा के तहत लॉक डाउन में मजदूरों एवं श्रमिकों को काम के लिए रोजगार देने के लिए निर्देशित किए हैं गांव की गरीब जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है उनको उनका मजदूरी का पैसा भी नहीं मिल  पा रहा है ।

 ज़ैगम अब्बास

दिव्यांग दंपति को नहीं योजनाओं का लाभ

पति पत्नी दोनों विकलांग फिर भी नहीं मिला पेंशन और सरकारी आवास

झोपड़ी में जिंदगी के दिन गुजार रहे है  विकलांग दम्पत्ति*

विकलांग पेंशन के लिए प्रधान ने लिए पांच सौ रुपए लेकिन नहीं दिलवा पाए पेंशन।

बेरूवा कौशाम्बी। मूरतगंज बिकास खण्ड के जीवनगंज ग्राम सभा अशरफपुर के विकलांग दम्पत्ति को तमाम भाग दौड़ के बाद भी विकलांग पेंशन और सरकारी आवास नही मिल सका है जबकि विकलांग दम्पत्ति को पेंशन दिलाने के नाम पर ग्राम प्रधान ने पहले ही पांच सौ रुपये ले लिए है गरीबी का दंश झेल रहे विकलांग दम्पत्ति झोपड़ी में जिंदगी के दिन गुजार रहे है जिससे योजनाओं के संचालन की पारदर्शिता का अंदाजा लगाया जा सकता है। जानकारी के मुताबिक जीवनगंज अशरफपुर की कमला देवी और उसका पति लालचंद पटेल दोनों पति पत्नी शारीरिक रूप से विकलांग हैं गरीबी का दंश झेल रहे इस दम्पत्ति के पास रहने के लिए छत भी नहीं है क्योंकि इनका घर लगभग दो वर्ष पूर्व बारिश के कारण गिर गया था।

 

बारिश में घर गिर जाने के बाद कमला देवी व उसके परिवार के लोगो को रहने का कोई ठिकाना नहीं रह गया है। कमला देवी किसी तरह झोपडी छप्पर डाल कर अपना जीवन यापन कर रही हैं  जिसमें दरवाजा भी नहीं लगा है फिर भी कमला देवी दो बच्चों साथ किसी तरह से वही जिंदगी का गुजारा कर रही है लेकिन आज तक कमला देवी को कोई भी सरकारी लाभ नहीं मिला हैं यहां तक कि इन्हें विकलांग पेंशन का लाभ भी नहीं मिला है योजनाओं के लाभ के लिए बिकलांग दम्पत्ति ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है। कमला देवी ने बताया कि ग्राम प्रधान व हल्का लेखपाल सिक्रेटरी से मैंने कई बार कहा कि मुझे आवास योजना के तहत आवास की रकम दे दी जाए तथा विकलांग दम्पत्ति को पेंशन स्वीकृत करा दी जाए विकलांग दम्पत्ति का कहना है कि आज तक हमारी कही भी कोई सुनवाई नहीं हुई बिकलांग दम्पत्ति की कहानी योजनाओं की पारदर्शिता की हकीकत खोल रही है।

मंजीत सिंह 

विकास के नाम पर जारी है लूट-खसौट

विकास के नाम पर लूट घसोट कर रहे है ग्राम प्रधान और सिक्रेटरी

एक ही गड्डे में दो शौचालय बनाने का सिक्रेटरी वा ग्राम प्रधान ने किया प्लान

करारी कौशाम्बी। मंझनपुर बिकास खण्ड के करारी क्षेत्र के पंवारा गांव में समस्या का अम्बार  लगा है और शौचालय निर्माण में गजब का खेल शुरू हो गया है दो लाभार्थियों के शौचालय निर्माण के लिए एक गड्ढे बनाये जाने का प्लान शुरू है शौचालय निर्माण की मांग करने पर ग्रामीणों के साथ गाली गलौज करने की शिकायत मिली है। ग्रामीणों का कहना है कि जब शौचलय निर्माण की रकम उनसे मांगा गया तो वह गलियों से बात करते है ग्रामीणों का कहना है कि प्रधान कहते है जहां जाना है जाओ मेरा कोई कुछ नही कर सकता। 

सवाल उठता है कि आखिरकार जनता को इस सरकार में कब मिलेगा प्रधानमंत्री के दिए गए विकास योजनाओं का आमजनता को लाभ ग्रामीणों का कहना है कि जब सरकार विकास कार्य का पैसा गांव गांव देती है तो प्रधान और सिक्रेटरी क्यों डकार जाते है सरकारी योजनाओं की रकम गांव की आभव ग्रस्त गरीब जनता जिन्हें भगवान मानती है वही सरकारी योजनाओं की रकम को डकार कर अपना पेट भरने से बाज नही आते है आखिर कार कब होगी इनके भ्रष्टाचार की निष्पक्ष जाँच और कब मिलेगा गरीब जनता को इंसाफ कब होगी भ्र्ष्ट अधिकारी व ग्राम प्रधान सिक्रेटरी पर कब होगी कार्यवाही यह तमाम सवाल लोगो के जेहन में कौंध रहे है।

गौरतलब है कि इन दिनों शौचालय  निर्माण में घटिया क्वालटी के पट्सेम पीले ईंट लगाने का भी ग्रामीणों द्वारा आरोप प्रधान व सिक्रेटरी पर लगाया गया है। जनता को गुमराह कर सरकारी पैसों का यह जिम्मेदार करते है बंदरबांट यदि ऐसे सिक्रेटरी प्रधान पर नही हुई कार्यवाही तो सरकारी खजाना साफ करने में इनको देर नही होगी। आखिर सिक्रेटरी को किसका संरक्षण प्राप्त है, जो कई शिकायत आने के बावजूद भी नही हुई कार्यवाही यह बड़ा जांच का विषय है। सपा सरकार की माला जपने वाला यह सेक्रेटरी भाजपा सरकार में भी जनता पर रौब दिखा रहा है क्या एक सिक्रेटरी के आगे आलाधिकारी नतमस्तक हो गए है अब देखना यह है कि इस सिक्रेटरी प्रधान पर कार्यवाई होती है या फिर सच मे इस भाजपा सरकार में इसका कहना सच साबित होता है कि सिक्रेटरी के इस रौब के आगे जनता तो जनता आलाधिकारी भी मूकदर्शक बने रहेंगे

 ज़ैगम अब्बास

समाजवादी नेताओं का गाजियाबाद में धरना

अश्वनी उपाध्याय

गाजियाबाद। समाजवादी पार्टी गाजियाबाद जिला अध्यक्ष राशिद मलिक के निर्देश पर सपा नेता मनमोहन झा गामा व जब्बार मलिक के नेतृत्व में एटलस साइकिल फैक्ट्री बंद होने एवं हजारो मजदूर बेरोजगार होने के खिलाफ साहिबाबाद साइट 4 स्थित फैक्टरी के मुख्य गेट पर धरना प्रदर्शन किया। केन्द्र व प्रदेश सरकार से 20 लाख करोड़ मदद देने की मांग की गई।

धरना में मुख्यरुप से ,जब्बार मलिक,मुज्जू चौधरी अजय कुमार  सचिन यादव मौ0 अशरफ मंसूरी शोएब अब्बासी  अब्दुल भाई सलीम शकील खान साजन सिंह कृष्ण सिंह सोनू बजरगी विपिन मिश्रा दद्दू मंसूरी सरफराज भाई आदि लोग उपस्थिति थे।

मीडिया ने योगी की बड़ाई के पुल बांधे

नई दिल्ली/इस्लामाबाद। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण से निपटने को लेकर किए गए काम की हर ओर तारीफ हो रही है। देश और दुनिया ही नहीं बल्कि भारत का सबसे बड़ा दुश्मन देश पाकिस्तान भी सीएम योगी की प्रशंसा कर रहा है। पाक के चर्चित अखबार द डॉन के संपादक फ़हद हुसैन कोरोना के दौरान योगी द्वारा उठाए गए कदमों की तारीफ करते हुए उनके मुरीद हो गए हैं।


उन्होंने ट्वीट कर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ और पाकिस्तान की इमरान खान सरकार के कार्यों की तुलना की है और योगी नेतृत्व को इमरान से बेहतर बताया है। अपने ट्वीट में फ़हद ने लिखा है कि उत्तर प्रदेश की जनसंख्या पाकिस्तान के करीब है। उन्होंने बताया कि पाकिस्‍तान की आबादी जहां 20.80 करोड़ है, वहीं उत्‍तर प्रदेश की 22.50 करोड़ लेकिन पाकिस्तान के मुकाबले उत्तर प्रदेश में मौतों की दर काफी कम है। उन्होंने कहा कि यूपी ने कड़ाई से लॉकडाउन का पालन कराया, लेकिन पाकिस्तान में यह नहीं हो सका। जिसका नतीजा है कि यहां संक्रमण और मौतों की दर ज्यादा है, जबकि उत्तर प्रदेश में कम है। बता दें कि उत्तर प्रदेश में अभी तक कोरोना संक्रमितों की संख्या 10261 है, जबकि पाकिस्तान में 98943 लोग इस वैश्विक महामारी से संक्रमित हैं। वहीं इस वायरस से पाकिस्तान में मरने वालों की संख्या 2002 है, जबकि उत्तर प्रदेश में अभी तक 275 लोगों की इससे जान गई है।


 


नजदीक उपचुनाव, राजनीतिक दबाव बढ़ा

राणा ओबरॉय


चण्डीगढ़। हरियाणा की सरकार औऱ राजनीति को हिलाकर रख देने वाला ऐसा कांड जिसने सरकार औऱ सत्तारूढ़ पार्टी की कार्यप्रणाली पर अनेको सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं! जिस तरह से एक महिला नेत्री ने सरेआम पुलिस के सामने एक अधिकारी की पिटाई की है।जिसकी वीडियो ने हरियाणा में तहलका मचा रखा है। उस नेत्री पर पार्टी औऱ सरकार द्वारा कोई कार्यवाही न करने के पीछे क्या बरोदा उपचुनाव है! क्या पार्टी कोई कार्यवाही करके जाट मतदाता को नाराज नही करना चाहती है! यदि ऐसा है तो फिर करनाल भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष कथूरिया पर तत्काल प्रभाव से कार्यवाही क्यो की?क्या इन सवालों का भाजपा पार्टी औऱ सरकार के पास कोई जवाब है। एक जिला महामंत्री एसडीएम को सरेआम देखने की धमकी देता है। फिर भी सरकार उदासीन बनी हुई है। इसके परिणाम भविष्य में भाजपा औऱ खट्टर सरकार को देखने को मिल जाएंगे।? अब हम बात करते हैं बरोदा उपचुनाव में राजनीतिक पार्टियों की बिसात बिछाने की। बरोदा के प्रस्तावित उपचुनाव में भाजपा को या उसके उम्मीदवार को लेकर अंदाज और अनुमान लगाएं तो पहले एक बड़े सवाल का जवाब ढूंढना होगा lसवाल यह है कि इस चुनाव में मुख्यमंत्री मनोहर लाल चलेगी या एक बार फिर दिल्ली के पावर सेंटर की मेज की दराज में प्रदेश अध्यक्ष का हस्ताक्षरित नाम रिक्त अथॉरिटी लेटर पहले की तरह फिर पहुंचा दिया जाएगा। माहौल बनाना ही राजनीति है l भाजपा माहौल बनाकर लड़ेगी बरोदा का उपचुनाव ! होती तो निश्चित तौर पर गन्नौर से देवेंद्र कादयान राई से कृष्णा गहलावत खरखोदा से पवन खरखोदा बरोदा से डॉक्टर कपूर सिंह नरवाल गोहाना से ठेकेदार जय सिंह या रामचंद्र जांगड़ा को टिकट मिलती l ऐसे लोग यह जानते हैं कि पिछले चुनाव में गोहाना खरखोदा राई और गन्नौर की टिकटें सांसद रमेश कौशिक ने दिलवाई थी l उनके दो उम्मीदवार जीत गए दो हार गए l इस मामले में एक बात अब भी साफ है कि मुख्यमंत्री अब भी उसी राय के हैं lउनके तीन विश्वासपात्र लोग डॉक्टर कपूर सिंह नरवाल को ही सपोर्ट कर रहे हैं lडॉक्टर कपूर इन नेताओं के माध्यम से ही भाजपा में शामिल हुए थे। बरोदा का उपचुनाव कोई साधारण उपचुनाव नहीं होगा l दिल्ली बैठे लोग एक बात चीख चीख कर कह रहे हैं कि इस उपचुनाव में हर हाल में उम्मीदवार भाजपा का होगा l चंडीगढ़ के भाजपा नेता जाट की उम्मीदवारी के पक्ष में हैं तो दिल्ली वाले तर्क देते हैं कि उम्मीदवार फिर से गैर जाट ही होना चाहिए l वे कहते हैं कि जे जे पी के उम्मीदवार का मैदान में नहीं आना और उसके वोट बैंक का स्वाभाविक रूप से भाजपा को मिलने की आस ही सरकार की जीत के लिए पर्याप्त संभावना बन जाती है lभाजपा के इन नेताओं का तर्क यह भी है कि बेशक हल्के में 48% जाट मतदाता है परंतु गैर जाट इससे भी ज्यादा 52% हैं उनका मानना है कि 48 परसेंट जाट मतदाता जहां दो जगह बटेगा वही जाट मतदाताओं का ही एक वर्ग किसी न किसी कारण से भाजपा के समर्थन में भी पाया जाएगा lऐसे में यदि गैर जाट उम्मीदवार हुआ तो 52परसेंट गैर जाट बहुमत में भाजपा का समर्थन करेगा l इसलिए यह मानकर चलिए कि बरोदा में एक बार फिर पहलवान योगेश्वर दत्त को अखाड़े में उतारा जा सकता है l भाजपा के बड़े नेताओं की नजर में बरोदा में योगेश्वर दत्त गैर जाट उम्मीदवार के रूप में सबसे उपयुक्त उम्मीदवार हैं।उधर मलिक उम्मीदवार के नाम पर विचार हुआ तो उसके पीछे भी शायद रमेश कौशिक जरूर मिलेंगेl परंतु यहां एक बात सबसे महत्वपूर्ण यह है कि भाजपा नेता अपना उम्मीदवार तय करते समय कांग्रेस की रणनीति का जायजा जरूर लेंगे l क्योंकि पिछले चुनाव में भाजपा नेताओं को पता था की बरोदा से कांग्रेस के सीटिंग एमएलए श्री कृष्ण हुड्डा को ही टिकट दी जा रही है परंतु इस बार उन्हें दिमाग पर ज्यादा जोर देना पड़ेगा l इस पहेली का जवाब अभी मिलना मुश्किल है l हम यह मानकर चल रहे हैं कि कोई कितने भ्रम में रहे कोई कितना भ्रम फैलाए , कांग्रेसी की टिकट का फैसला तो बहुत पहले से हुआ पड़ा है परंतु इसे सार्वजनिक करने को कोई तैयार नहीं lआपको मानना होगा कि इस तरह के प्रतिष्ठा पूर्ण चुनाव में उम्मीदवार का नाम किसी ऐसे फार्मूले पर तय हुआ करता है जिससे दूसरे उम्मीदवारों को एक ही पंक्ति के जवाब से संतुष्ट कराया जा सके।


लल्लू की रिहाई को लेकर कांग्रेस की मीटिंग

अश्वनी उपाध्याय

गाजियाबाद। लोनी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने वार्ड नंबर 34 स्थित पूजा कॉलोनी में चौधरी फजलू राणा पूर्व जिला महासचिव कांग्रेस कमेटी गाजियाबाद के निवास पर उत्तर प्रदेश, प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस कमेटी अजय कुमार लल्लू की रिहाई को लेकर की बैठक।

 

इस मौके पर कांग्रेस कमेटी के गणमान्य लोग मौजूद रहे। जिनमें पीसीसी सदस्य उत्तर प्रदेश एवं पूर्व जिला महासचिव अजय पाल कांग्रेस कमेटी गाजियाबाद, कांग्रेस वरिष्ठ कार्यकर्ता संदीप शर्मा जी, पूर्व नगर अध्यक्ष अशोक तोमर जी पूर्व जिला महासचिव इलियास ठेकेदार साहब, पूर्व जिला मीडिया प्रभारी अख्तर अली जी, पूर्व जिला सचिव चौधरी समून अली जिला, कांग्रेस के वरिष्ठ एवं जुझारू कार्यकर्ता चौधरी आबिद अली जी, कांग्रेस के वरिष्ठ कार्यकर्ता डॉ सिद्दीकी साहब, वरिष्ठ कांग्रेस कार्यकर्ता चौधरी तफसीर अली, कांग्रेस कार्यकर्ता रवि कुमार, चौधरी मुस्तफा, चौधरी आरिफ अली, अरशद अली एवं कई गणमान्य लोग मौजूद रहे।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


 जून 09, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-301 (साल-01)
2. मंगलवार, जूूून 09, 2020
3. शक-1943, अषाढ़, कृष्ण-पक्ष, तिथि- चतुर्थी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:39,सूर्यास्त 07:24।


5. न्‍यूनतम तापमान 22+ डी.सै.,अधिकतम-40+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)


नये सिरे से चुनाव प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दिए

अकांशु उपाध्याय        नई दिल्ली। भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ(एनआरएआई) के मोहाली में होने वाले चुनावों से एक दिन पहले खेल मंत्रालय ने निशानेब...