बुधवार, 4 मई 2022

डीएम ने कैंप आयोजित करने के निर्देश दिए

डीएम ने कैंप आयोजित करने के निर्देश दिए  

अश्वनी उपाध्याय/शशांक मिश्र      

गाजियाबाद। दिव्यांगों को निशुल्क कृत्रिम अंग व सहायक उपकरण उपलब्ध कराने के लिए गाजियाबाद जिला प्रशासन तहसील व ब्लॉक स्तर पर कैंप आयोजित कर पात्रों को चिन्हित करेगा। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने उपजिलाधिकारी लोनी, मोदीनगर व गाजियाबाद के अलावा भोजपुर, रजापुर, मुरादनगर व लोनी के खंड विकास अधिकारियों को कैंप आयोजित करने के निर्देश दिए हैं। यह सभी कैंप 11 मई से 26 मई तक आयोजित किए जाएंगे। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने जानकारी दी कि उक्त कैंप सरकार की वितरण योजना के अन्र्तगत आयोजित किए जाएंगे।
कैंप में अन्य योजनाओं की भी मिलेगी जानकारी
जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने बताया कि दिव्यांगजनों को कृत्रिम अंग व सहायक उपकरणों जैसे ट्राईसाइकिल, व्हीलचेयर, वैशाखी कान की मशीन, सेन्सर स्टीक, कृत्रिम हाथ/पैर आदि से लाभान्वित किया जाना है। योजना के पात्रों के चिन्हांकन के लिए सभी तहसीलों एवं विकास खण्डों में कैम्पों का आयोजन किया जा रहा है। साथ ही इन कैम्पों में विभागीय योजनाओं जैसे दिव्यांग पेंशन योजना, कुष्ठावस्था पेंशन योजना, दिव्यांगजन शादी-विवाह प्रोत्साहन पुरस्कार योजना और दिव्यांग यूडीआईडी योजना के लाभार्थियों का भी चिन्हांकन किया जायेगा।
कैम्प में दिव्यांगजन को अपने साथ 2 फोटो, अपना आधार कार्ड, आय प्रमाण पत्र तथा दिव्यांगता प्रमाण पत्र लाना अनिवार्य होगा। जिलाधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि तहसील गाजियाबाद में 11 मई को तहसील मोदीनगर में 13 मई, तहसील लोनी में 17 मई, विकास खंड भोजपुर में 19 मई, विकास खंड मुरादनगर में 21 मई, विकास खंड रजापुर में 24 मई और विकास खंड लोनी में 26 मई को आयोजित किया जाएगा।

भाजपा के राज में अपराधी व पुलिस के हौसले बुलंद

भाजपा के राज में अपराधी व पुलिस के हौसले बुलंद 

संदीप मिश्र             
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर-प्रदेश में भाजपा सरकार के राज में अपराधी और पुलिस, इन दोनों के ही हौसले बुलन्द है।
कानून व्यवस्था की स्थिति भाजपा 2.0 राज में दिन प्रतिदिन खराब होती जा रही है। कोई दिन ऐसा नहीं जाता जब प्रदेश में कहीं न कहीं लूट, हत्या, बलात्कार की घटनाएं न होती हों। ऐसा लगता है कि उत्तर प्रदेश ह्यईज डूइंगह्य अपराध प्रदेश बन गया है। पार्टी मुख्यालय से जारी बयान में कहा कि गाजियाबाद में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर डॉक्टर दंपत्ति घायल हैं और बहुप्रशंसित पुलिस उन्हें टरकाने में लगी है। जौनपुर में एक मासूम छात्र को दबंगो ने मार डाला। उसका पिता रो-रोकर न्याय की मांग कर रहा है। चंदौली में एक मासूम बेटी के साथ रेप और हत्या के आरोपों से घिरी उत्तर प्रदेश की पुलिस पर ललितपुर के पाली में पुलिस वालो द्वारा ही सामूहिक बलात्कार का आरोप लगा है।
ललितपुर में रेप की शिकायत करने पहुंची नाबालिग से थाने में ही एसओ ने दरिंदगी की। इस शर्मनाक घटना की शिकार 13 वषीर्या किशोरी की गंभीर स्थिति विचलित करने वाली है। इसी तरह बुलंदशहर में 8 वर्ष की बच्ची से गैंगरेप की शिकायत मिली है। आखिर लोग कहां और किस पर भरोसा करें ?बिगड़ती कानून व्यवस्था के हालात के पीछे वस्तुत: खुद भाजपा सरकार का अपराधियों के आगे नतमस्तक हो जाना है। राजनीतिक प्रश्रय पाकर भाजपाई भी अब कानून अपने हाथ में ले रहे हैं। यही नही सरेआम बेलगाम होकर कानून वालों पर भी हाथ उठाने लगे हैं। 

भाजपा विधायक थाना-तहसील में जाकर पुलिस वालों पर मनमाने काम का दबाव बनाते हैं। एक महिला दारोगा को आत्महत्या के लिए मजबूर किया गया। कई जगह पुलिस वालो से हाथापाई भी की गई। भाजपा सरकार में उत्तर प्रदेश की जितनी बदनामी देश-विदेश तक हुई है वैसी कभी नहीं हुई थी। फिरौती, हत्या, अपराध और वसूली के बाद अब पुलिस रेप और गैंगरेप से भी बदनामी कराने लगी है। प्रदेश में बाबा बुलडोजर की बड़ी चर्चाये हैं लेकिन यह बुलडोजर शासन-प्रशासन से खिलवाड़ करने वालों पर क्यों नहीं चलता है? सपा प्रमुख ने योगी सरकार पर पलटवार करते हुए कहा कि गरीबों की झुग्गी बस्तियों को उजाड़ने में देर नहीं लगाने वाला बुलडोजर बच्चियों की नृशंस हत्या और रेप करने वालो के घरों तक क्यों नहीं पहुंच रहा है ?

दक्षिणी दिल्ली, बुलडोजर से अतिक्रमण पर कार्रवाई

दक्षिणी दिल्ली, बुलडोजर से अतिक्रमण पर कार्रवाई

हरिओम उपाध्याय

नई दिल्ली। जहांगीरपुरी में चले अतिक्रमण विरोधी अभियान के बाद साउथ दिल्ली नगर निगम भी अपने कई क्षेत्रों में बुलडोजर से अतिक्रमण पर कार्रवाई करने को तैयार है। साउथ नगर निगम ने अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए दिल्ली पुलिस से फोर्स मांगी है। साउथ नगर निगम शाहीन बाग ,कालिंदी कुंज, जसोला, एमजी रोड ,करणी सिंह शूटिंग रेंज इलाकों में बुल्डोजर से अतिक्रमण को हटाएगा। साउथ दिल्ली नगर निगम 9 मई से लेकर 13 मई तक इन इलाकों में अतिक्रमण के खिलाफ बुलडोजर चलाएगा और इसके लिए उसने दिल्ली पुलिस से अतरिक्त फोर्स मांगी है।

साउथ नगर निगम में स्थायी समिति के उपाध्यक्ष राजपाल सिंह ने इस अभियान को लेकर कहा कि साउथ एमसीडी दक्षिण दिल्ली के कई हिस्सों में 9 मई से 13 मई तक अतिक्रमण विरोधी अभियान का पहला चरण शुरू करेगी। इस संबंध में दक्षिण और दक्षिण पूर्व डीसीपी को पत्र लिखा कर अधिक फोर्स मांगी गई है। साउथ एमसीडी के मेयर मुकेश सूर्यन ने कहा कि यह केवल सामान्य अतिक्रमण अभियान है। हालांकि, साउथ नगर निगम पहले ही इस अभियान की शुरुआत कर रहा था लेकिन पुलिस बल न मिलने के कारण यह अभियान कुछ दिन पहले शुरू नहीं हो सका था। दिल्ली पुलिस ने कहा था कि पुलिस बल के लिए पहले बताना होगा। वहीं इस अतिक्रमण विरोधी अभियान की सुनते ही शाहीन बाग से दुकानदारों ने अपनी दुकानों के सामने के अतिक्रमण को खुद ही साफ करना शुरू कर दिया था। दिल्ली एमसीडी ने साफ कह दिया है कि दिल्ली में अतिक्रमण अब साफ किया जाएगा और सड़कें खाली की जाएंगी।

कोरोना के नए लक्षण, उल्टी-दस्त व बुखार मानें

कोरोना के नए लक्षण, उल्टी-दस्त व बुखार मानें

नई दिल्ली। कोरोना वायरस एक बार फिर अपने पैर पसार रहा है। दिल्ली, मिजोरम, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और केरल के बाद राजस्थान में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। इस बार मरीजों में उल्टी-दस्त यानी, डायरिया की समस्या भी देखी जा रही है। माना जा रहा है कि उल्टी-दस्त कोरोना के नए लक्षण हैं। राजस्थान के कोविड हॉस्पिटल आरयूएसएच के पीडियाट्रिक डॉ. आलोक गोयल के अनुसार, कुछ दिनों से ओपीडी में बड़ी संख्या में बच्चे आ रहे हैं। इन बच्चों में उल्टी-दस्त और तेज बुखार की समस्या देखी जा रही है। कुछ बच्चों में तेज पेट दर्द के भी लक्षण मिले हैं। जब इनका कोरोना टेस्ट कराया गया, तो लगभग 5 प्रतिशत बच्चे पॉजिटिव पाए गए।

क्या वाकई उल्टी-दस्त और पेट दर्द कोरोना के लक्षण हैं या फिर गर्मी के मौसम में ऐसा होना आम बात है? इसका जवाब जानने के लिए हमने बात की रांची एआईआईएमएस के डॉक्टर प्रदीप भट्टाचार्य और मेडिसिन एचओडी डॉक्टर वीपी पांडेय, एमजीएम एमसी, इंदौर से।

​​​​​​सवाल : क्या उल्टी-दस्त कोरोना के नए लक्षण हैं?
डॉ. प्रदीप भट्टाचार्य : इस मौसम में जिन लोगों को उल्टी-दस्त की समस्या हो रही है और वो कोविड पॉजिटिव हैं, इसके लिए सिर्फ एक वायरस जिम्मेदार नहीं है, बल्कि ये मिक्स वायरल इंफेक्शन है। कुछ लोगों को इन लक्षणों के बाद डायरिया हो रहा है तो कुछ लोगों को कोरोना, लेकिन स्पष्ट रूप से ये नहीं कहा जा सकता है कि उल्टी-दस्त कोरोना के नए लक्षणों में से एक हैं। इसके बावजूद इस लक्षण को हल्के में नहीं लेना है।

डॉ. वीपी पांडेय : गर्मी का मौसम है। इसमें लोगों को उल्टी-दस्त की समस्या होना आम बात है। कुछ बच्चे और बुजुर्ग उल्टी-दस्त के बाद कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, फिर भी उल्टी-दस्त को पूरी तरह से कोरोना का मुख्य लक्षण नहीं कहा जा सकता है। बड़ी संख्या में उल्टी-दस्त के मरीज कोरोना पॉजिटिव आएंगे, तब इसे स्पष्ट रूप से कोरोना का मुख्य लक्षण माना जाएगा।

सवाल : उल्टी-दस्त हो रहे हैं तो कैसे पता चलेगा कि ये कोरोना है या फूड पॉइजनिंग?

जवाब : किसी व्यक्ति को उल्टी-दस्त की समस्या है तो वो डॉक्टर को दिखाए। फिर भी, मन में शंका है कि उसे कोरोना है या नहीं, तो वो अपना कोविड टेस्ट करा ले। इससे क्लीयर हो जाएगा उसे डायरिया है या कोरोना। यह तो बात हुई कोरोना की वजह से होने वाले उल्टी-दस्त की। अब उजाला सिग्नस ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल के डॉ. शुचिन बजाज से जानते हैं कि गर्मी के मौसम में आखिर फूड पॉइजनिंग की समस्या क्यों होती है और इसके लक्षण क्या है?

सवाल : गर्मी में फूड पॉइजनिंग की समस्या क्यों होती है?
जवाब : गर्मी के मौसम में फूड पॉइजनिंग एक आम बीमारी है। इस समय खाना आसानी से खराब हो जाता है और कई बार लोग इसे खा लेते हैं। गलत खानपान, बासी खाना या खराब खाना खाने के कारण ही आपको फूड पॉइजनिंग की समस्या हो सकती है।

फूड पॉइजनिंग के लक्षण क्या-क्या हैं?

जी मिचलाना।
पेट में ऐंठन।
उल्टी।
दस्त।
बुखार।
कमजोरी।

सिरदर्द।
भूख में कमी।

सवाल : फूड पॉइजनिंग से क्या परेशानी हो सकती है?
जवाब : फूड पॉइजनिंग से पेट खराब, उल्टी और दस्त हो सकते हैं। यह समस्या बच्चों में ज्यादा होती है। अलग-अलग तरह के नुकसान पहुंचाने वाली कई सूक्ष्मजीव होते हैं, जो शरीर में समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इनमें बैक्टीरिया, वायरस, और फंगस शामिल हैं। खाना जब खराब होता है तो ये कीटाणु इसमें पनपने लगते हैं। जब आप ऐसे खराब खाने को खाते हैं तो ये आपके शरीर में जाते हैं और घंटों बाद आपको उल्टी, दस्त और बुखार जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

क्या यह चिंता की बात है?
हां, उल्टी-दस्त को हल्के में लेना ठीक नहीं है। इससे छोटे बच्चों और बुजुर्गों की तबीयत ज्यादा खराब हो रही है। कई बार इसकी वजह से मरीजों को हॉस्पिटल में भी एडमिट करना पड़ता है। चूंकि, इन दिनों कोरोना के एक लक्षण में उल्टी-दस्त भी शामिल है, ऐसे में लापरवाही महंगी पर सकती है।

श्रीराम 'निर्भयपुत्र'

5 को बंगाल के 2 दिवसीय दौरे पर जाएंगे शाह

5 को बंगाल के 2 दिवसीय दौरे पर जाएंगे शाह 

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, बृहस्पतिवार (5 मई) को पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर जाएंगे। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस दौरान शाह भारत-बांग्लादेश सीमा से लगे अग्रिम इलाकों का दौरा करेंगे‌। एक जनसभा को संबोधित करेंगे और पश्चिम बंगाल से भाजपा के सांसदों, विधायकों और पार्टी पदाधिकारियों के साथ बातचीत करेंगे‌।

शाह शुक्रवार को संस्कृति मंत्रालय द्वारा कोलकाता के प्रतिष्ठित विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित एक सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘मुक्ति-मातृका’ में भी शामिल होंगे। अधिकारियों ने बताया कि गृह मंत्री बृहस्पतिवार की सुबह राज्य में एक ‘फ्लोटिंग बॉर्डर आउट पोस्ट’ (बीओपी) पर एक नाव एम्बुलेंस को हरी झंडी दिखाएंगे। उन्होंने बताया कि वह हरिदासपुर बीओपी में मैत्री संग्रहालय की आधारशिला रखेंगे। उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार की शाम शाह सिलीगुड़ी में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को गृह मंत्री तीन बीघा जाएंगे और कूच-बिहार जिले के ढेकियाबाड़ी बीओपी में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) जवानों से बातचीत करेंगे। अधिकारियों ने बताया कि कोलकाता लौटने के बाद वह पश्चिम बंगाल से भाजपा के सांसदों, विधायकों और राज्य पदाधिकारियों से मुलाकात करेंगे।

नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम में फाइनल मुकाबला

नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम में फाइनल मुकाबला

मोमीन मलिक           
नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग 2022 में अब तक 48 मुकाबले खेले जा चुके है। जबकि 26 मैच अभी खेले जाने बाकी हैं। आईपीएल के 15वें सीजन में एक से बढ़कर एक रोमांचक मुकाबले देखने को मिल रहे हैं। इस बीच आईपीएल 2022 के फाइनल मैच को लेकर बड़ा अपडेट सामने आया है।
बीसीसीआई ने प्लेऑफ और फाइनल मुकाबले के आयोजन के लिए बड़ा कदम उठाया है। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने ऐलान किया है कि आईपीएल 2022 का फाइनल मुकाबला अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम में खेला जाएगा। जय शाह ने ये भी बताया कि आईपीएल 2022 के ग्रुप मैचों के बाद प्लेऑफ मुकाबले कोलकाता और अहमदाबाद में खेले जाएंगे।


यहां होंगे मैच...

आईपीएल 2022 का क्वालिफायर 1 और एलिमिनेटर मुकाबला कोलकाता के ईडन गार्डन्स स्टेडियम में खेला जाएगा। जबकि क्वालिफायर 2 और फाइनल मुकाबला अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम में खेला जाएगा। 29 मई को आईपीएल 2022 का फाइनल मैच होना है।

आईपीएल 2022 के प्लेऑफ, एलिमिनेटर और फाइनल का शेड्यूल...

24 मई - पहला क्वालियफायर (ईडन गार्डन्स स्टेडियम, कोलकाता)।
25 मई - एलिमिनेटर (ईडन गार्डन्स स्टेडियम, कोलकाता)।
27 मई - दूसरा क्वालियफायर (नरेंद्र मोदी स्टेडियम, अहमदाबाद)।
29 मई- फाइनल (नरेंद्र मोदी स्टेडियम, अहमदाबाद)।

बलात्कार-धमकी के मामलें में विधायक को जमानत

बलात्कार-धमकी के मामलें में विधायक को जमानत 

कविता गर्ग 

मुंबई। बम्बई उच्च न्यायालय ने एक महिला द्वारा दायर कथित बलात्कार और धमकी के मामलें में भाजपा विधायक गणेश नाइक को बुधवार को अग्रिम जमानत दे दी। अदालत ने इस बात पर गौर किया कि आरोपी और शिकायतकर्ता के बीच संबंध सहमति से थे। न्यायमूर्ति अनुजा प्रभुदेसाई की एकल पीठ ने कहा कि आरोपी और पीड़िता के बीच संबंध सहमति से थे इसलिए ‘‘प्रथमदृष्टया इसमें बलात्कार का मामला नहीं बनता है।’’

न्यायमूर्ति प्रभुदेसाई ने कहा, ‘‘हिरासत में पूछताछ के लिए कोई मामला नहीं बनता है। जमानत के लिए आवेदन केवल इस आधार पर खारिज नहीं किया जा सकता है कि आवेदक एक विधायक हैं।’’ अदालत ने हालांकि, नाइक को एक सप्ताह के भीतर अपनी लाइसेंसी रिवॉल्वर पुलिस को सौंपने का निर्देश दिया। पीड़िता ने दावा किया था कि नाइक ने उसे अपनी रिवॉल्वर से डराया दमकाया। उच्च न्यायालय ने कहा कि गिरफ्तारी की स्थिति में नाइक 25,000 रुपये के मुचलके पर जमानत पाने के पात्र हैं। उच्च न्यायालय ने नवी मुंबई के ऐरोली क्षेत्र से विधायक नाइक को निर्देश दिया कि उन्हें पूछताछ के लिए सोमवार और मंगलवार को संबंधित पुलिस थाने में पेश होना होगा। अपनी शिकायत में 42 वर्षीय महिला ने दावा किया कि वह 1995 से महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री नाइक के साथ ‘लिव-इन रिलेशनशिप’ में थी।

एक्ट्रेस ने अपना लुक फैंस के साथ शेयर किया

एक्ट्रेस ने अपना लुक फैंस के साथ शेयर किया  

कविता गर्ग
मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस निक्की तंबोली अपनी एक्टिंग से ज्यादा लुक्स और फैशन सेंस को लेकर तारीफें बटोरती हैं। इंडियन हो या वेस्टर्स आउटफिट्स ये एक्ट्रेस हर ड्रेस को कॉन्फीडेंस के साथ पहनती हैं। निक्की ने इंस्टाग्राम के जरिए अपना लुक फैंस के साथ शेयर किया। जो की खूब वायरल हो रहा है इस लुक में निक्की इंडो वेस्टर्न आउटफिट्स में दिखाई दे रही हैं। हालांकि आपको बता दें कि ये निक्की का नया नहीं बल्कि कुछ दिनों पुराना वीडियो है जिसपर फैंस प्यार बरसाते नहीं थक रहे हैं।
सामने आए वीडियो में आप देख सकते हैं कि निक्की ने हैवी क्रिस्टल वर्क वाला टील कलर का लहंगा पहना हुआ है। इस लहंगे को बोल्ड टच देने के लिए एक्ट्रेस ने ब्लाउज के साथ जो एक्सपेरिमेंट किया है उसपर हर किसी की नजरें थम रही हैं। इस दौरान निक्की ने ऑफ शोल्डर ब्लाउज कैरी किया साथ ही अपने इस लुक को और ज्यादा डेयरिंग बनाने के लिए उन्होंने इस वीडियो रील में दुपट्टा भी कैरी नहीं किया है।
इस दौरान निक्की तंबोली गार्डन एरिया में खूबसूरत अदाएं देती हुई अपना लहंगा दिखा रही हैं और खूबसूरत अदाएं दे रही हैं। एक्ट्रेस ने अपने इस लुक को पूरा करने के लिए गुलाबी लिप शेड लगाया और डे लाइट के हिसाब से न्यूड मेकअप किया। निक्की का आई मेकअप उनके इस लुक में चार चांद लगा रहा है‌। साथ ही उनके हेयरस्टाइल की बात करें तो उन्होंने इस मैसी टच दिया था। एक्ट्रेस ने एसेसीरीज के नाम पर सिर्फ एक ब्रैस्लेट और रिंग कैरी की।
निक्की तंबोली बोल्डनेस के लिए मशहूर हैं ऐसे में इस वीडियो में हॉटनेस का तड़का लगाने के लिए वो कैमरे के सामने हल्का सा झुक पर पोज देती दिखाई दे रही हैं। जैसे ही निक्की कैमरे के सामने झुकीं तो कुछ देर के लिए हर किसी की नजरें थम रहीं हैं।
सिर्फ इतनी है निक्की की उम्र...
बता दें कि निक्की तंबोली की उम्र अभी सिर्फ 25 साल ही हैं और वो इतनी सी उम्र में काफी शोहरत हासिल कर चुकी हैं। ये पहली बार नहीं है जब निक्की ने अपना ऐसा अंदाज फैंस के साथ शेयर किया है। बल्कि उनका पूरा इंस्टाग्राम एक से बढ़कर एक शानदार तस्वीरों और वीडियो से पटा हुआ है। बिग बॉस से मशहूर हुई निक्की कई म्यूजिक वीडियोज और टेलीविजन शोज में दिखाई दे चुकी हैं।

75 सड़क निर्माण के लिए 12 करोड़ की मांग

75 सड़क निर्माण के लिए 12 करोड़ की मांग

संदीप मिश्र
मुजफ्फरनगर। नगर पालिका ने शासन से 75 सड़क निर्माण के लिए 12 करोड़ रुपये मांगे हैं। वित्तीय बजट की बैठक में सड़कों को मुद्दा मुख्य रहा है। नगर क्षेत्र की सड़कें क्षतिग्रस्त होने के अलावा नया निर्माण होना है। इसके लिए पालिका के पास पूर्ण रुप से बजट नहीं है।

कई क्षेत्र में सड़कों का बुरा हाल....
सड़कों को लेकर पालिका ने सर्वेक्षण कराया है। 40 से अधिक सड़क ऐसी हैं, जिनका पुन: निर्माण होना है। वार्ड-4 इस्लामनगर, जमुना विहार, नई आबादी, सद्दीकनगर, देवीदास आदि स्थानों पर सड़क अधिक खराब पड़ी है।
प्रस्तावित निर्माण में 500 मीटर से लेकर दो किलोमीटर लंबी दूरी की सड़कें है। जिन पर बड़े पैमाने पर बजट खर्च होगा। निर्माण विभाग से बरसात से पहले मुख्य सड़कों की कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए गए है।

सभासदों ने कर रखी है शिकायत...
वार्डों में विकास कार्य ठप होने की सभासदों ने शासन स्तर तक शिकायत कर रखी है। वार्ड-4 की सभासद रिहाना, वार्ड-11 की सभासद रेखा सहरावत आदि ने डीएम, कमिश्नर को उनके वार्ड में सड़क मरम्मत, निर्माण कराए जाने की गुहार लगा रही है। इसके चलते नगर पालिका का वर्तमान बोर्ड अपने अंतिम समय से पहले वार्डों में व्यवस्था दुरूस्त कराने के लिए प्रयास कर रहा है।

जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण करने पहुंचे सिंह

जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण करने पहुंचे सिंह  

रोशनी पांडेय     

मुरादाबाद। जिला अस्पताल में बुधवार को हड़कंप मच गया। जब भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, मुरादाबाद मंडल प्रभारी एवं जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह अचानक जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण करने पहुंच गए। जल शक्ति मंत्री के औचक निरीक्षण से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया, जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने जिला अस्पताल के एल टू कोविड-19 अस्पताल का निरीक्षण किया, उसके बाद जिला अस्पताल के वार्ड में पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लेने के साथ ही मरीजों से स्वास्थ्य सेवाओं का हाल जाना, साथ ही मरीजों से जानकारियां भी हासिल की।

इस दौरान कई मरीजों ने अपनी समस्याओं को भी जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह के समक्ष रखा। बता दे कि जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह मुरादाबाद भ्रमण कार्यक्रम पर आए हुए हैं। बुुधवार सुबह उन्होंने सर्किट हाउस में जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक की और उसके बाद अचानक वह जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण करने पहुंच गए, जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह के अचानक जिला अस्पताल के निरीक्षण से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। जिला अस्पताल में पहुंचकर जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने एल टू कोविड अस्पताल में पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उसके बाद जिला अस्पताल के सभी वार्डों का निरीक्षण किया‌। जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती मरीजों से हाल-चाल जाना और स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर जानकारी ली। 

इस दौरान मीडिया से रूबरू होते हुए जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि जिला अस्पताल का निरीक्षण किया है देखा है तैयारी क्या है ? कोविड हॉस्पिटल को लेकर बाकी व्यवस्था क्या है यहां पर देखा है। योगी के कार्यकाल की 5 साल की सरकार चल रही है, यहां की व्यवस्था हमें चुस्त दुरुस्त दिखी, पूरी तैयारी है सीएमओ की तरफ से और जो जो कमियां थी, उन कमियों के निस्तारण के लिए आश्वस्त किया है, सीएमओ साहब ने। हमने कुल मिलाकर मरीजों से भी पूछा मरीज के तीमारदारों से भी पूछा लोगों ने कहा कि नहीं अच्छा इलाज योगी सरकार में मिल रहा है, और ठीक ढंग से व्यवस्था हो रही है,बाकी जो कमियां रही है उसके लिए आग्रह सीएमओ साहब से किया गया है, उस समस्या का समाधान होगा। 

 शासन में सत्ता और सरकार जो है, एक मिशन है। राजनीतिक व्यापार नहीं है, राजनीति मिशन है। गरीब लोगों की सेवा के लिए सरकार बनती है, गरीब घर की खुशहाली के लिए सरकार बनती है‌।इसी कारण सरकार बनने के बाद मान्य मुख्यमंत्री जी एवं मंत्री सब सड़क पर हैं।

डेढ़ करोड़ रुपये की कीमत का घर कुर्क: कार्रवाई

डेढ़ करोड़ रुपये की कीमत का घर कुर्क: कार्रवाई 

सत्येंद्र पंवार
मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ में फिर से बड़ी कार्रवाई हुई है। यहां ड्रग्स माफिया तस्लीम का डेढ़ करोड़ रुपये की कीमत का घर लालकुर्ती पुलिस ने कुर्क कर लिया है। चरस और ड्रग्स बेचकर तस्लीम ने लिसाड़ी गेट की शानदार कॉलोनी में आलीशान घर बनाया था। लालकुर्ती पुलिस ने तस्लीम पर गैंगस्टर 14-ए के तहत कार्रवाई करने के लिए पहले मुकदमा दर्ज किया था।
इंस्पेक्टर लाल कुर्ती अतर सिंह ने बताया कि गैंगस्टर के तहत ही पुलिस फोर्स ने लिसाड़ी गेट में जा कर ड्रग्स माफिया तस्लीम का घर कुर्क किया है। कुर्क करने के दौरान आसपास के लोगों की भीड़ लग गई। जिन को पुलिस ने वहां से खदेड़ा।
इस दौरान मौके पर एएसपी चंद्रकांत मीणा, एएसपी ब्रहमपुरी विवेक, इंस्पेक्टर लालकुर्ती अतर सिंह, इंस्पेक्टर संजीव कुमार शर्मा और इंस्पेक्टर लिसाड़ी गेट समेत भारी संख्या में आरएएफ और पुलिस बल तैनात रहा।

नीतिगत दर रेपो को %4.4 पर करने की घोषणा

नीतिगत दर रेपो को %4.4 पर करने की घोषणा  

कविता गर्ग
मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक ने एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए अपनी नीतिगत दर रेपो को बुधवार को 4 प्रतिशत से बढ़ाकर 4.4 प्रतिशत पर करने की घोषणा की। आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने आरबीआई मुख्यालय पर इस फैसले की घोषणा करते हुए कहा कि दीर्घकालीन वृद्धि दर के हित में मुद्रास्फीति को काबू में रखना जरूरी है।
उन्होंने वर्तमान आंतरिक और बाहरी परिदृश्यों को चुनौतीपूर्ण बताते हुए कहा कि केंद्रीय बैंक मुद्रास्फीति पर अंकुश रखने के साथ-साथ आर्थिक वृद्धि को समर्थन देने की नीति के प्रति प्रतिबद्ध है। आरबीआई ने मई 2020 से अपनी रेपो दर (वह दर जिसपर केंद्रीय बैंकों को एक दिन के लिए धन उधार देता है) को 4 प्रतिशत पर बनाए हुए था ताकि कोविड से त्रस्त अर्थव्यवस्था को वृद्धि की राह पर आगे बढ़ाया जा सके।
रेपो दर बढ़ाने की रिजर्व बैंक की घोषणा के बाद शेयर बाजार में तेज गिरावट दर्ज की गयी। बीएसई का 30 शेयरों वाले संवेदी सूचकांक सेंसेक्स कारोबार के दौरान में 1342 अंक तक नीचे आ गया था। कोविड का संकट कम होने और आर्थिक गतिविधियों में तेजी के बीच अचानक रूस यूक्रेन युद्ध से जिंसों का अंतरराष्ट्रीय बाजार और आपूर्ति श्रृंखला प्रभावित होने के कारण मुद्रास्फीति का दबाव बढ़ गया है।
मार्च में भारत में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 6.95 प्रतिशत तक पहुंच गयी जो इसका 17 महीने का उच्चतम स्तर है। फरवरी में भी मुद्रास्फीति 6.07 प्रतिशत थी जबकि रिजर्व बैंक को खुदरा महंगायी दर को 2-6 प्रतिशत के दायरे में रखने की जिम्मेदारी मिली हुयी है। आरबीआई गर्वनर ने कहा कि तमाम उभरती चुनौतियों के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था बाहरी आधातों से निपटने के लिए पहले से बेहतर स्थिति में है।

पूर्व सांसद को गोवा का पार्टी प्रभारी नियुक्त किया

पूर्व सांसद को गोवा का पार्टी प्रभारी नियुक्त किया

इकबाल अंसारी       
पणजी। तृणमूल कांग्रेस ने पूर्व सांसद कीर्ति आजाद को गोवा का पार्टी प्रभारी नियुक्त किया है। तृणमूल कांग्रेस ने बुधवार को एक बयान में यह जानकारी दी। बयान में कहा गया है कि ममता बनर्जी के निर्देश पर अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस ने पूर्व लोकसभा सांसद कीर्ति आजाद को तत्काल प्रभाव से पार्टी का गोवा प्रदेश प्रभारी नियुक्त किया है।
उल्लेखनीय है कि गत फरवरी में हुए विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस ने सांसद महुआ मोइत्रा को गोवा का प्रभारी नियुक्त किया था। पार्टी ने विधानसभा चुनाव महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी(एमजीपी) के साथ गठबंधन में लड़ा, जिसमें एमजीपी ने दो सीट पर जीत हासिल की जबकि उसका खाता भी नहीं खुला। विधानसभा का चुनाव समाप्त होने के बाद प्रदेश अध्यक्ष किरण कंडोलकर सहित कई नेताओं ने पार्टी को अलविदा कह दिया। तृणमूल कांग्रेस ने हाल में गोवा में अपनी इकाई को पुनर्गठित करने की घोषणा की थी।

सरकार का रवैया, सैनिक हित विरोधी हैं: गांधी

सरकार का रवैया, सैनिक हित विरोधी हैं: गांधी

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि सरकार का रवैया सैनिकों के हितों पर कुठाराघात करने वाला है और वन रैंक वन पेंशन (ओआरओपी) को नकारने के बाद अब उन्हें पेंशन नहीं देने की नीति पर काम किया जा रहा है। कांग्रेस नेता ने कई पूर्व सैनिकों को अप्रैल की पेंशन नहीं मिलने संबंधी एक अखबार में छपी खबर को बुधवार को अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट करते हुए सरकार पर हमला किया और कहा कि उसका रवैया, सैनिक विरोधी है और वह सैनिकों के हितों को कुचलने की बराबर कोशिश करती है।
गांधी ने ट्वीट कर कहा, “वन रैंक वन पेंशन’ के धोखे के बाद अब मोदी सरकार ‘आल रैंक नो पेंशन’ की नीति अपना रही है। सैनिकों का अपमान देश का अपमान है। सरकार को पूर्व सैनिकों की पेंशन जल्द से जल्द देनी चाहिए।” कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार का सशस्त्र बलों पर नियोजित हमला लंबे समय से चल रहा है।
सशस्त्र बलों के हितों पर यह न पहला हमला है और न आखिरी। सरकार ने उच्चतम न्यायालय में भी “वन रैंक वन पेंशन-ओआरओपी’ का विरोध किया है। विकलांगता पेंशन पर कर लगाने के साथ ही सरकार ने ईसीएचएस बजट में भी कटौती की है। उन्होंने कहा “सैन्य अस्पतालों में शॉर्ट सर्विस कमीशन अधिकारियों के इलाज से इनकार किया गया है और पूर्व सैनिकों के पुनर्वास के लिए पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी आदि के आवंटन से इनकार किया गया है। सीएसडी कैंटीन में वस्तुओं की खरीद पर रोक लगाने के साथ ही इस समान पर जीएसटी लगाई जा रही है।

मुंबई व अन्य शहरों के कई स्थानों पर कड़ी सुरक्षा

मुंबई व अन्य शहरों के कई स्थानों पर कड़ी सुरक्षा

कविता गर्ग
मुंबई। अजान के लिए लाउडस्पीकर का उपयोग किये जाने के विरोध में हनुमान चालीसा का पाठ करने के, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे के आह्वान के एक दिन बाद बुधवार को मुंबई और आस-पास के शहरों में कई स्थानों पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। एक अधिकारी ने बताया कि अधिकतर मस्जिदों में सुबह की नमाज शांतिपूर्ण तरीके से अदा की गई। उन्होंने बताया कि मुंबई पुलिस आयुक्त संजय पांडे समेत सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारी सुरक्षा बलों की तैनाती का जायजा लेने के लिए गश्त पर निकले हैं।
कुछ जगहों पर मस्जिदों के बाहर भी पुलिस तैनात की गई है। अधिकारी ने बताया कि विभिन्न स्थानों पर नाकाबंदी की गई है और किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए देर रात से ही वाहनों की जांच की जा रही है। शहर की पुलिस ने एहतियाती तौर पर मनसे के कार्यकर्ताओं और अन्य लोगों के खिलाफ दण्ड प्रक्रिया संहिता धारा 149 (संज्ञेय अपराधों को रोकने के लिए) सहित विभिन्न धाराओं के तहत 1,600 से अधिक नोटिस जारी किए हैं।
पुलिस ने विभिन्न मस्जिदों के मौलवियों और न्यासियों के साथ बैठकें भी की और उन्हें उच्चतम न्यायालय के दिशानिर्देशों तथा ध्वनि प्रदूषण से संबंधित नियमों का पालन करने के लिए कहा। पड़ोसी जिले ठाणे और पालघर में भी कई स्थानों पर भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है। ठाणे के मुंब्रा कस्बे में जुम्मा मस्जिद के पास व्यापक बंदोबस्त किए गए हैं। मनसे के कुछ कार्यकर्ताओं ने वहां करीब ही हनुमान चालीसा का पाठ करने की योजना बनाई थी, लेकिन धार्मिक परिसर के बाहर ‘अजान’ सुनाई नहीं देने के बाद वे चले गए।
मुंब्रा थाने के वरिष्ठ निरीक्षक अशोक कदलाग ने बताया कि स्थिति नियंत्रण में है और अभी तक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। भिवंडी के जोन II के पुलिस उपायुक्त योगेश चव्हाण ने भी कहा कि ठाणे के पावरलूम शहर में शांति कायम है।

4 मई को खुला 'एलआईसी का आईपीओ'

4 मई को खुला 'एलआईसी का आईपीओ' 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एलआईसी) का आईपीओ 4 मई को खुल गया है। IPO के जरिए सरकार LIC की 3.5% हिस्सेदारी बेचने जा रही है। इससे 21,000 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। अगर आप भी इसमें पैसा लगाने का प्लान बना रहे हैं तो हम आपको बता रहे हैं कि आप इसमें कितना और कैसे निवेश कर सकते हैं।

मिनिमम और मैक्सिमम कितना पैसा लगा सकते हैं।
रिटेल निवेशक मिनिमम एक लॉट यानी 15 शेयरों के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इस हिसाब से रिटेल निवेशकों को 45 रुपए के डिस्काउंट के बाद मिनिमम 13,560 रुपए लगाने होंगे। मैक्सिमम लिमिट 14 लॉट है, यानी 210 शेयर। निवेशक मैक्सिमम 1,89,840 रुपए लगा सकते हैं। इसी तरह पॉलिसी होल्डर्स 60 रुपए के डिस्काउंट के बाद मिनिमम 13,335 रुपए और मैक्सिमम 1,86,690 का निवेश कर सकते हैं। हालांकि, पॉलिसी होल्डर्स और एम्प्लॉई के पास एक एडिशनल बेनिफिट भी है।

क्या इसमें किसी तरह का डिस्काउंट मिल रहा है?
रिटेल निवेशकों के लिए LIC ने 45 रुपए का डिस्काउंट रखा है। अगर आप अपर बैंड पर शेयर के एक लॉट के अप्लाय करते हैं तो फिर 949 रुपए प्रति शेयर की जगह आपको 904 रुपए प्रति शेयर के हिसाब से पेमेंट करना होगा। यानी एक लॉट के लिए आपको 14,235 की जगह केवल 13,560 रुपए देने होंगे।

आपके पास है LIC की पॉलिसी तो आपको सस्ते में मिलेंगे शेयर, यहां जानें इससे जुड़ी जरूरी बातें
अगर आपके पास LIC की पॉलिसी है तो आपको 60 रुपए का डिस्काउंट मिलेगा। आप पॉलिसी होल्डर कोटे से अपर बैंड पर शेयर के एक लॉट के अप्लाई करते हैं तो आपको 889 रुपए प्रति शेयर के हिसाब से पेमेंट करना होगा। यानी एक लॉट के लिए आपको 14,235 की जगह 13,335 रुपए देने होंगे।
क्या डीमैट खाता होना जरूरी है।
सेबी नियमों के मुताबिक किसी भी कंपनी के इक्विटी शेयर केवल डीमैट रूप में ही जारी होते हैं। इसलिए कोई भी, चाहे पॉलिसी होल्डर्स हो या रिटेल निवेशक, उसके पास एक डीमैट खाता होना जरूरी है।
आप जिस कैटेगिरी के लिए अप्लाय करना चाहते हैं उस पर क्लिक करें। इसके बाद आप कितने लॉट के चाहते हैं वो भरें। इसके बाद आपके अकाउंट से लॉट की कीमत का पैसा लीन (ब्लॉक) हो जाएगा। ऐसे में 12 मई को जब शेयर अलॉटमेंट में अगर आपको शेयर मिलते हैं तो आपके अकाउंट से पैसा कट जाएगा और 16 मई को आपके डीमैट अकाउंट में शेयर आ जाएंगे। इसके बाद LIC का शेयर 17 मई को मार्केट में लिस्ट हो जाएगा।
वहीं अगर आपको शेयर नहीं मिलते हैं तो 13 मई से आपके पैसे को अनब्लॉक करने की प्रोसेस शुरू हो जाएगी। ऐसे में 1-2 दिन में ही आपका पैसा अनब्लॉक हो जाएगा। वहीं अगर आप ऑफलाइन अप्लाय करना चाहते हैं तो आपको LIC ऑफिस या अपनी डीमैट अकाउंट कंपनी के ऑफिस में संपर्क करना होगा।
छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में माओवादियों ने 2 ग्रामीणों को अगवा कर लिया था। इसमें से एक पर पुलिस की मुखबिरी करने का आरोप लगाकर हत्या कर दी गई। बताया जा रहा है कि धारदार हथियार से गला रेत कर युवक को मारा गया है। माओवादियों ने वारदात को अंजाम देने के बाद शव को जंगल में फेंक दिया था। जबकि अगवा किए गए दूसरे युवक को अपने कब्जे से रिहा कर दिया है। मामला जिले के मोदकपाल थाना क्षेत्र का है। हालांकि इसकी अब तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। जानकारी के मुताबिक, माओवादियों ने सोमवार शाम जिले के नक्सल प्रभावित कुंदलनार ग्राम पंचायत के गुड़ीपाल इलाके से 2 ग्रामीणों को अगवा किया था। रात भर दोनों ग्रामीणों को बीजापुर जील के जंगल में ही अपने साथ रखे थे। जिनसे पूछताछ की जा रही थी। इसके बाद मंगलवार शाम एक ग्रामीण सत्यम पुलसे की नक्सलियों ने धारदार हथियार से गला रेत कर हत्या कर दी। उसके शव को गांव के ही जंगल में फेंक दिया था। अंदरूनी और नक्सल प्रभावित इलाका होने की वजह से ज्यादा जानकारी सामने नहीं आ सकी है।
17 नवंबर 2020 को नक्सलियों ने सुकमा के जंगलों में जन अदालत लगाकर 2 युवकों की हत्या की थी।
21 अक्टूबर 2020 को नक्सलियों ने बीजापुर में एक आरक्षक को अगवा कर जनअदालत लगा उसकी हत्या की थी।
साल 2020 में ही नक्सलियों ने नारायणपुर के अबूझमाड़ में 2 युवकों पर पुलिस मुखबिरी का आरोप लगा कर गला रेत का हत्या की थी।
साल 2020 में कांकेर जिले में नक्सलियों ने जन अदालत लगा कर एक पूर्व सरपंच की हत्या की थी।
साल 2020 में कांकेर जिले में एक दिव्यांग युवक की हत्या कर शव सड़क किनारे फेंका था। इस पर भी पुलिस मुखबिरी का आरोप लगाया गया था।साल 2020 में सुकमा जिले में ही नक्सलियों ने एक ग्रामीण पर पुलिस मुखबिरी का आरोप लगा कर जन अदालत लगा उसकी हत्या कर दी थी। नवंबर 2021 में सुकमा जिले में जनअदालत लगाकर माओवादियों ने 2 युवकों की हत्या की थी। इनपर भी पुलिस मुखबिरी योय आरोप लगाया था। नवंबर 2021 में नक्सलियों ने कांकेर जिले के कोयलीबेड़ा इलाके में जन अदालत लगाकर 1 ग्रामीण की हत्या की थी। जनवरी 2022 में बीजापुर जिले में अपने ही एक साथी कमलू पुनेम को जन अदालत लगाकर मारा।
जनवरी 2022 में ही बीजापुर जिले के जांगला थाना क्षेत्र में अपने ही 2 साथी भोंगी पोयाम और कोतरापाल निवासी बोटी कुहरामी पर पुलिस मुखबिरी का शक कर उन्हें भी जन अदालत लगा कर मौत की सजा दी। 10 फरवरी को माओवादियों ने दंतेवाड़ा जिले के टेटम में एक युवक की हत्या कर दी थी। 17 मार्च को माओवादियों ने बीजापुर जिले के मद्देड थाना क्षेत्र में एक पास्टर की हत्या की थी। 28 अप्रैल को दंतेवाड़ा के नीलावाया में एक दिव्यांग युवक की हत्या कर दी। 2 मई को दंतेवाड़ा जिले के कटेकल्याण इलाके के एक कोटवार को मारा था।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 3,205 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 3,205 नए मामलें  

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। देश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के 3,205 नए मामलें सामने आए हैं। जबकि 31 मरीजों की मौत हो गई। देश में कल कोरोना मामलों में कुछ कमी देखने मिली थी, सोमवार को देश में 2,568 नए केस मिले थे, लेकिन मंगलवार को फिर कोरोना केस 3 हजार के पार पहुंच गए हैं।
देश में एक्टिव केस यानी इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 19,509 महामारी की शुरुआत से अब तक देश में कुल 5.23 लाख लोगों ने जान गंवाई है।
कोरोना के मामले बढ़ने के साथ एक्टिव केस भी बढ़ गए हैं। फिलहाल देश में 18,317 संक्रमितों का इलाज चल रहा है। सोमवार को देश में कोरोना के एक्टिव केस 13,137 हो गए थे। वहीं, देश में पॉजटिविटी रेट 1.22% हो गया है।
कोरोना हॉटस्पाट बना हुआ है।दिल्ली
दिल्ली कोरोना का हॉटस्पाट बना हुआ है, यहां बीते कई दिनों से लगातार हजार से ज्यादा केस सामने आ रहे हैं। मंगलवार को दिल्ली में कोरोना के 1,414 नए मामले सामने आए। इससे पहले राजधानी में 1,076 केस मिले थे। बीते दिन दिल्ली में कोरोना से एक मरीज की मौत हो गई। यहां कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या 5,986 हो गई है।
अन्य राज्यों में कोरोना की स्थिति की बात करें तो महाराष्ट्र में 182 केस सामने आए और एक मरीज की मौत हो गई। वहीं, उत्तर प्रदेश में 193 केस, हरियाणा में 505 केस और केरल में 386 मामले सामने आए हैं। वहीं 24 घंटे में हुई 54 मौतों में से 52 सिर्फ केरल में हुई हैं।
कोवोवैक्स टीके की कीमत 900 रुपए से घटकर 225 रुपए हुई।
सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने मंगलवार को कोवोवैक्स टीके की कीमत में भारी कटौती की है। SII ने हर खुराक की कीमत 900 रुपए से घटाकर 225 रुपए कर दी है। इसमें टैक्स शामिल नहीं है। 12-17 वर्ष की आयु के बच्चों के कोविड-19 टीकाकरण के लिए कोवोवैक्स को कोविन पोर्टल पर सोमवार को ही शामिल किया गया है।

अप्रैल में 40-50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा पारा

अप्रैल में 40-50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा पारा

सुनील श्रीवास्तव 
इस्लामाबाद/नई दिल्ली। भारत समेत दक्षिण एशिया में समय से पहले ही झुलसा देने वाली गर्मी पड़ने लगी है। भारत और पाकिस्तान में अप्रैल के महीने में ही पारा 40-50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। अब इस भीषण गर्मी से आने वाले दिनों में भी राहत नहीं मिलने वाली है। स्कॉटलैंड के मौसम वैज्ञानिक स्कॉट डंकन ने डराने वाली चेतावनी दी है। उन्होंने ट्विटर पर एक थ्रेड में कहा है कि भारत और पाकिस्तान की तरफ खतरनाक और झुलसाने वाली गर्मी बढ़ रही है।
उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि अप्रैल के महीने में तापमान रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच जाएगा। उन्होंने संभावना जताई है कि तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। जबकि पाकिस्तान के कुछ इलाकों में तापमान 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने की उम्मीद जताई है। उन्होंने कहा है कि यह गर्मी बहुत पहले ही पड़ने लगी थी। मार्च के शुरुआत से ही। आइए जानते हैं आखिर इतनी गर्मी पड़ने की वजह क्या है ?
स्कॉट ने अपने ट्विटर अकाउंट पर मार्च 2022 का एक ग्राफिक पोस्ट किया है। उन्होंने कहा कि इसमें आप देख सकते हैं कि दुनिया के इस इलाके में मार्च में कितनी खतरनाक गर्मी पड़ रही है।
स्कॉटलैंड के मौसम वैज्ञानिक ने बताया है कि 19 वीं शताब्दी के बाद भारत और पाकिस्तान का तापमान बदला है। उन्होंने यह बेरकेले अर्थ के डेटा के हवाले से बताया है। उनका कहना है कि जैसे-जैसे हमारे ग्रह का तापमना बढ़ता है हीटवेव और शक्तिशाली हो जाती है। गर्मी के खतरनाक स्तर को साल के ज्यादातर समय में देखा जा सकता है। विश्व मौसम विज्ञान संगठन ने जनवरी में कहा था कि साल 2021 का जो तापमान रिकार्ड किया गया था वह धरती के सात सबसे गर्म सालों में से एक था। हर साल औसत वैश्विक तापमान एक डिग्री सेल्सियस बढ़ रहा है। साल 2020 में महामारी के दौरान वैश्विक कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन में गिरावट देखी गई थी, लेकिन उसके बाद इसमें रिकॉर्ड स्तर पर बढ़ोतरी हुई है। ग्लोबल वॉर्मिंग को रोकने के लिए हमें एक लंबी दूरी तय करनी होगी। ग्रह के तापमान में कमी लाने के लिए तेजी से डीकार्बोनाइजेशन की जरूरत है। सबसे खतरनाक जलवायु परिवर्तन से बचा सकता है, क्योंकि अभी ज्यादा देर नहीं हुई है।

पॉलिटिकल व मिलिट्री कंट्रोल स्थापित किया जाए

पॉलिटिकल व मिलिट्री कंट्रोल स्थापित किया जाए

अखिलेश पांडेय  
कीव/मॉस्को। यूक्रेन और रूस के बीच चल रही जंग के 10 हफ्ते बीत चुके हैं। लेकिन अब तक रूस को यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में ही बड़ी कामयाबी मिली है। जबकि पश्चिम के क्षेत्र में घुसने के लिए सेना मुश्किल का सामना कर रही है। लेकिन इस बीच रूस ने अपनी रणनीति में बदलाव कर दिया है। रूस की तैयारी है कि पश्चिमी यूक्रेन के हिस्सों पर कब्जा जमाने की बजाय, पूर्वी क्षेत्र के जिन इलाकों को कंट्रोल कर लिया गया है, उन पर पूरी तरह से पॉलिटिकल और मिलिट्री कंट्रोल स्थापित किया जाए। क्रेमलिन की कोशिश है कि स्थानीय प्रशासन में अपने लोगों को स्थापित किया जाए। इसके अलावा स्थानीय लोगों से ट्रांजेक्शन में रूबल का इस्तेमाल करने को कहा जा रहा है। यह ठीक वैसी ही पॉलिसी होगी।
जैसी उसने 2014 में क्रीमिया को शामिल करते वक्त अपनाई थी। की जानकारी रखने वाले लोगों ने बताया कि रूस इन इलाकों में रेफरेंडम भी करा रहा है ताकि इनके विलय के लिए एक आधार तैयार किया जा सके। इसके अलावा व्लादिमीर चाहते हैं कि यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की को पद से हटाकर उनके स्थान पर अपने समर्थक किसी व्यक्ति को लाया जाए। यही नहीं स्थानीय सरकारों में भी रूस समर्थक लोगों को लाने की रणनीति पर व्लादिमीर पुतिन काम कर रहे हैं। दरअसल 24 फरवरी को रूस ने यूक्रेन पर हमला बोला था, लेकिन तब से अब तक जेलेंस्की ने हथियार डालने से इनकार कर दिया है। इसके अलावा बातचीत से भी कोई समाधान नहीं निकल सका है। का कहना है कि उन्हें अब भी भरोसा है कि रूसी सेनाएं यूक्रेन के बड़े हिस्से पर कब्जा जमाने में सफल होंगी। इसके अलावा डोनेत्सक और लुहान्सक क्षेत्रों पर पूरा नियंत्रण स्थापित करने की तैयारी है। यही नहीं यूक्रेन के दक्षिणी हिस्सों खेरसोन और जैपोरिझझिया क्षेत्रों के भी एक हिस्से पर रूसी सेनाओं ने नियंत्रण कर लिया है। ये दोनों क्षेत्र क्रीमिया से सटे हुए हैं, जिन्हें रूस ने 2014 में अपने में मिला लिया था। यही वजह है कि रूस को इन क्षेत्रों में नियंत्रण स्थापित करने में आसानी हुई है। इसकी एक वजह यह भी है कि यहां रूसी संस्कृति को मानने वाले लोगों की बड़ी संख्या है। ऐसे में सामाजिक और सांस्कृतिक तौर पर भी रूस को इन क्षेत्रों का विलय करने में आसानी होगी। अलावा रूस ने परसेप्शन के लेवल पर भी बड़ी तैयारी की है। 9 मई को दूसरे विश्व युद्ध के विजय दिवस के तौर पर रूस आयोजन करता रहा है। 
इस दिन यूक्रेन को लेकर भी कुछ ऐलान किया जा सकता है। इस दिन रूस में मिलिट्री परेड भी निकाली जाती रही है। गौरतलब है कि पूर्वी यूक्रेन के बड़े हिस्से में रूस समर्थक लोगों की भारी संख्या है। इसके अलावा पश्चिमी क्षेत्र में नाटो और यूरोप समर्थक लोगों की आबादी अधिक है। ऐसे में रूस की भी कोशिश यही है कि पूर्वी हिस्सों पर नियंत्रण स्थापित कर यूक्रेन को दो टुकड़ों में बांट दिया जाए।

बिना चीर-फाड़, दिल की बीमारी का इलाज

बिना चीर-फाड़, दिल की बीमारी का इलाज  

दुष्यंत टीकम 
रायपुर। राजधानी के सरकारी अस्पताल एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट ( ACI ) में 71 साल के बुर्जुग का बगैर चीर-फाड़ के एंजियोप्लास्टी से दिल की जटिल बीमारी का सफल इलाज किया गया है। दरअसल मरीज को हार्ट अटैक आने से दिल की दीवार फट गई थी, जिसे डॉक्टरों द्वारा बटन डिवाइस लगाकर बंद किया गया।
चिकित्सा विशेषज्ञों की मानें तो ऐसी स्थिति में मरीज के बचने की संभावना काफी कम रहती है। प्रदेश में इस तरह का दूसरी बार सफल ऑपरेशन बार किया है।
तीन साल पहले भी आया था ऐसा ही केस
वर्ष 2019 में ऐसा ही एक केस आया था। इसका इलाज भी बटन डिवाइस लगाकर किया गया था। एसीआई के एचओडी डॉ. स्मित श्रीवास्तव से मिली जानकारी के अनुसार 71 साल के मरीज को 27 अप्रैल को मेजर हार्ट अटैक आया। शॉक की स्थिति में निजी अस्पताल से इसे एसीआई में रेफर कर दिया गया। मरीज की रीढ़ की हड्‌डी में पहले से ही परेशानी थी। इसके कारण मरीज के पैरों को ऑपरेशन टेबल पर सीधा व स्थिर नहीं रख पा रहा था। इसलिए पैर के नस के जरिए हार्ट तक तार पहुंचाया गया और बगैर चीर-फाड़ दिल का ऑपरेशन किया गया। यह सर्जरी पूरे डेढ़ घंटे तक चली। ट्रांसक्यूटेनियस क्लोजर की प्रक्रिया पहले ही जटिल होती है। उस पर मरीज की रीढ़ की हड्डी का टेढ़े-मेढ़े होने से चुनौती और बढ़ जाती है। दरअसल इसमें पैरों की मांसपेशियों में संकुचन की लहर उठती है। मरीज की पहले हार्ट की दो नसों की एंजियोप्लास्टी की गई, ताकि दिल को सपोर्ट मिल सके। फिर सुराख को बटन डिवाइस से बंद किया गया। डॉक्टरों के मुताबिक मरीज की हालत स्थिर है एक-दो दिन में मरीज को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।
हमारी नजर में आम आदमी की आवाज जब होती है बेअसर तभी बनती है बड़ी खबर। पूरब हो या पश्चिम, उत्तर हो या दक्षिण सियासत का गलियारा हो या गांव गलियों का चौबारा हो सारी दिशाओं की हर बड़ी खबर, खबर के पीछे की खबर और एक्सक्लूसवि विश्लेषण का ठिकाना है  सटीक सूचना के साथ उसके सभी आयामों से अवगत कराना ही हमारा लक्ष्य है। ग्लैमर दुनिया, जुर्म की गली हो या खेल गांव, टेकनोलॉजी हो या किसी मुद्दे पर बेबाक राय सब कुछ इसी प्लेटफॉर्म पर। हम बताएंगे इतिहास के कुछ ऐसे किस्से जिनसे आप हिल जाएंगे। TRP के इरादे हैं आपको खबर के हर उस पहलू से रू-ब-रू कराने के, जो आपके लिए जरूरी हैं।

मनसे: लाउडस्पीकर पर 'हनुमान चालीसा' बजाएंगे

मनसे: लाउडस्पीकर पर 'हनुमान चालीसा' बजाएंगे

कविता गर्ग
मुंबई। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे के राज्य सरकार को मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के लिए दिए गए अल्टीमेटम को लेकर मुंबई में तनाव के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में शांति है और राज्य में कोई विरोध नहीं हो रहा है। मनसे प्रमुख ने 12 अप्रैल को महाराष्ट्र सरकार को 3 मई तक मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने का अल्टीमेटम दिया था। जिसमें विफल रहने पर मनसे कार्यकर्ता, लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाएंगे। उन्होंने हाल ही में अपनी चेतावनी दोहराई थी।
राज्य द्वारा बुक किए जाने के बावजूद, उन्होंने बुधवार को शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे का एक वीडियो साझा किया, जिसमें वह लाउडस्पीकर के इस्तेमाल और मुसलमानों द्वारा सड़कों पर नमाज अदा करने के खिलाफ बोलते नजर आ रहे हैं।राज ठाकरे द्वारा साझा किए गए वीडियो में, बाल ठाकरे को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि शिवसेना तब तक आराम नहीं करेगी जब तक कि वह राज्य में सत्ता में आने पर लोगों को सड़कों पर नमाज अदा करने से बाल ठाकरे कहते हैं, हम (शिवसेना) तब तक नहीं रुकेंगे, जब तक हम महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए लोगों को सड़कों पर नमाज अदा करने से रोकने में सफल नहीं हो जाते हैं।
बाल ठाकरे ने राज ठाकरे द्वारा साझा किए गए वीडियो में कहा, अगर किसी को हिंदू धर्म के बारे में कोई शिकायत है, तो वे हमारे पास आ सकते हैं, और हम समस्या का समाधान करेंगे। मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटा दिए जाएंगे।
आरोप का जवाब देते हुए, शिवसेना नेता संजय राउत ने दावा किया कि राज्य में अब कोई भी अवैध लाउडस्पीकर काम नहीं कर रहा है।
राउत ने कहा, राज्य में कोई भी अवैध लाउडस्पीकर नहीं चल रहा है… बाल ठाकरे और वीर सावरकर ही हैं जिन्होंने देश को हिंदुत्व सिखाया है। शिवसेना का हिंदुत्व का स्कूल मूल है।
कल शाम ट्वीट किए गए एक बयान में, श्री ठाकरे ने उन मस्जिदों के पास लाउडस्पीकरों पर हनुमान चालीसा बजाने की अपनी योजना दोहराई, जहां लाउडस्पीकर नहीं हटाए गए हैं। उन्होंने कहा, “मैं सभी हिंदुओं से अपील करता हूं कि कल, 4 मई को, यदि आप लाउडस्पीकर को अजान के साथ बजाते हुए सुनते हैं, तो उन जगहों पर लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाएं। तभी उन्हें इन लाउडस्पीकरों की बाधा का एहसास होगा।
राज ठाकरे द्वारा लाउडस्पीकरों पर हनुमान चालीसा बजाने की धमकी के बाद मुंबई और उसके आसपास की कई मस्जिदों ने आज सुबह अज़ान के दौरान लाउडस्पीकर बंद कर दिए, जहाँ भी अज़ान का पाठ किया जाता है।
महाराष्ट्र सरकार ने कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए व्यापक तैयारी की है, पुलिस कर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं और संवेदनशील स्थानों पर बलों को तैनात किया गया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को पुलिस को कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सभी उपाय करने और किसी के आदेश का इंतजार नहीं करने का आदेश दिया था। उन्होंने महाराष्ट्र के डीजीपी रजनीश सेठ से भी टेलीफोन पर बातचीत की।
औरंगाबाद पुलिस ने दो दिन पहले कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में राज ठाकरे के खिलाफ मामला दर्ज किया है। संज्ञेय अपराध को रोकने के लिए मुंबई पुलिस ने सीआरपीसी की धारा 149 के तहत मनसे प्रमुख को नोटिस जारी किया है।
श्री ठाकरे की पार्टी और उनके चचेरे भाई उद्धव ठाकरे द्वारा संचालित राज्य सरकार के बीच आमना-सामना महाराष्ट्र में नागरिक चुनावों से पहले होता है, जिसमें भाजपा मुंबई नगर निकाय पर नियंत्रण पाने का प्रयास कर रही है, तब तक नहीं हो जाती।

क्लर्क-जेएमजी ऑफिसर पदों पर निकाली भर्ती

क्लर्क-जेएमजी ऑफिसर पदों पर निकाली भर्ती   

अकांशु उपाध्याय    
नई दिल्ली। इंडियन बैंक ने क्लर्क-जेएमजी ऑफिसर पदों पर भर्ती निकाली है। नोटिस के अनुसार यह भर्ती स्पोर्ट्स कोटा के तहत हो रही है। इस भर्ती के लिए आवेदन ऑनलाइन करना है। ऑनलाइन आवेदन की आखिरी तारीख 14 मई 2022 है। इसके तहत कुल 12 वैकेंसी है।
इंडियन बैंक भर्ती 2022 के विज्ञापन के अनुसार स्पोर्ट्स कोटे के तहत एथेलेटिक्स, बास्केट बॉल, क्रिकेट, हॉकी और वालीबॉल खिलाड़ियों की भर्ती होगी।
शैक्षिक योग्यता...
उम्मीदवार को कम से कम 12वीं पास होना चाहिए।
स्पोर्ट्स क्वॉलिफिकेशन...
ऑफिसर जेएमजी- क्रिकेट का खिलाड़ी होना चाहिए। कम से कम रणजी ट्रॉफी या दलीप ट्रॉफी खेला होना चाहिए।
क्लर्क- जूनियर/सीनियर लेवल पर स्टेट को रिप्रेजेंट किया होना चाहिए।
आयु सीमा – 18 से 26 साल
सैलरी
ऑफिसर जेएमजी स्केल I – 36000 -1490/7 – 46430 – 1740/2 – 49910 – 1990/7 – 63840 रुपये
क्लर्क- 17900-1000/3-20900-1230/3-24590-1490/4-30550-1730/7-42660-3270/1-45930-1990/1-47920 रुपये प्रति माह
आवेदन शुल्क
एससी, एसटी, दिव्यांग- 100 रुपये+जीएसटी
अन्य- 400 रुपये+जीएसटी

भारत की टॉप ब्रांड 'ओला इलेक्ट्रिक' टूव्हीलर

भारत की टॉप ब्रांड 'ओला इलेक्ट्रिक' टूव्हीलर

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। वर्ष-2021 के दौरान टू-व्‍हीलर सेगमेंट में कदम रखे। ओला इलेक्ट्रिक को अभी 5 महीने ही हुए हैं और कंपनी हीरो इलेक्ट्रिक को पीछे छोड़कर टॉप पर पहुंच गई है। भारत में ईवी टू-व्‍हीलर सेगमेंट में बिक्री करने वाले हीरो इलेक्ट्रिक को पीछे छोड़कर ओला इलेक्ट्रिक कंपनी भारत की टॉप ब्रांड बन गई है। इसने अप्रैल 2022 के दौरान सबसे अधिक इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स से बेची है।
वर्ष 2021 के दौरान टू-व्‍हीलर सेगमेंट में कदम रखे,ओला इलेक्ट्रिक को अभी 5 महीने ही हुए हैं और कंपनी हीरो इलेक्ट्रिक को पीछे छोड़कर टॉप पर पहुंच गई है।
सड़क परिवहन मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ो के अनुसार अप्रैल में कंपनी ने सबसे ज्यादा इलेक्ट्रिक स्कूटर बेचे है।
अप्रैल महीने के दौरान कंपनी ने 12683 यूनिट की बिक्री की है। वहीं हीरो इलेक्ट्रिक ने 50 फीसदी की गिरावट दर्ज की है, जिसने अप्रैल में 6570 यूनिट बेची है। दूसरे स्थान पर ओकिनावा ओटोटेक रही, जिसने 10000 इलेक्ट्रिक स्कूटर बेच दिए हैं और हीरो ने तीसरा स्‍थान प्राप्‍त किया है। वहीं एम्‍पियर और एथर ने चौथा और पांचवा स्‍थान पाया है।
चेन्‍नई से ओला इलेक्ट्रिक में आग लगने की पहली घटना
गौरतलब है कि मार्च के दौरान चेन्‍नई से ओला इलेक्ट्रिक में आग लगने की पहली घटना सामने आई थी। इसके बाद से एक घटना महाराष्‍ट्र से थी, जिसमें नाराज ग्राहक ने ओला को गद्दे से बांधकर खिचवाया था। इसके बाद एक यूजर्स को इलेक्ट्रिक स्‍कूटर के सिंगल चार्ज एवरेज सही नहीं मिला तो, उसने ई-स्‍कूटर में पेट्रोल छिड़कर आग लगा दी थी। ओला इलेक्ट्रिक ने ओला एस1 (OLA S1) और ओला एस1 प्रो (Ola S1 Pro Scooter) की कीमत 85 हजार से लेकर 1.10 लाख रुपये तक है।
मार्च के दौरान हीरो ने 13,000 इलेक्ट्रिक स्‍कूटरों की होलसेल डिलीवरी की थी, जिस कारण अभी स्‍टॉक हो सकता है। वहीं सेमीकंडर की कमी भी सेल को प्रभाव‍ित करने वाला बड़ा कारक साबित हो सकता है। वहीं यह भी माना जा रहा है कि अगर सेमीकंडर की कमी रही तो मई के महीने में भी इसकी बिक्री प्रभावित हो सकती है।

पूर्व पीएम ने 15 करोड़ की कार अपने पास रखीं

पूर्व पीएम ने 15 करोड़ की कार अपने पास रखीं 

सुनील श्रीवास्तव
इस्लामाबाद। इमरान खान ने जिस बीएमडब्ल्यू कार को अभी तक रख रखा है। उसे सरकार ने 3 करोड़ में खरीदा था, इसकी मौजूदा कीमत 6 करोड़ है। इसमें अगर बम और बुलेट प्रूफिंग को शामिल कर लिया जाए, तो इसकी कुल कीमत 15 करोड़ हो जाती है। पाकिस्तान की सूचना मंत्री मरियम औरंगजेब ने दावा किया है कि पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने पिछले महीने अविश्वास प्रस्ताव के माध्यम से पद से हटाए जाने के बाद 15 करोड़, पाकिस्तानी रुपये की एक शानदार कार अपने पास रखी है।
‘इमरान खान एक बीएमडब्ल्यू एक्स5 कार अपने साथ ले गए जो विदेशी प्रतिनिधिमंडलों के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय की कारों के बेड़े में से एक है। उन्होंने कहा कि कार की कीमत करीब 15 करोड़ पाकिस्तानी रुपये है जो बम प्रूफ और बुलेट प्रूफ है और छह साल पहले लगभग 3 करोड़ पाकिस्तानी रुपये में खरीदी गई थी। डॉन अखबार ने मंत्री के हवाले से कहा कि खान ने इस बात पर जोर दिया कि वह कार अपने साथ रखना चाहते हैं, जबकि पहले वह खुद प्रधानमंत्री आवास में महंगी कारें रखने पर पिछली सरकारों की आलोचना कर चुके हैं।
मंत्री ने यह भी दावा किया कि खान ने एक अन्य देश के राजनयिक से तोहफे में मिली एक हैंडगन भी अपने पास रख ली जिसे तोशखाना में जमा कराना चाहिए था। पाकिस्तान के कानून के अनुसार किसी दूसरे देश के अतिथि से मिले तोहफे को तोशखाना में रखा जाना चाहिए। पिछले महीने अविश्वास प्रस्ताव में हारने के बाद इमरान खान को पद से हटा दिया गया था। तब से उनकी पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ का शहबाज शरीफ नीत सरकार से विदेशी तोहफों पर गतिरोध चल रहा है।
इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने एक पखवाड़े पहले नई सरकार को खान द्वारा उनकी आधिकारिक यात्राओं पर मिले तोहफों की जानकारी सार्वजनिक करने का आदेश देते हुए कहा था कि दूसरे देशों की सरकारों द्वारा सरकारी अधिकारियों को दिए गए तोहफे पाकिस्तान सरकार के होते हैं, किसी व्यक्ति विशेष के नहीं। जवाब में खान ने कहा कि वे तोहफे उनके हैं और उनकी मर्जी है कि वे इन्हें अपने पास रखते हैं या नहीं। खान ने कहा, ‘‘मेरा तोहफा, मेरी मर्जी। उन्होंने यह भी कहा कि इमरान ने सिर्फ सरकारी तोहफों में ही घोटाला नहीं किया, बल्कि उन्होंने चीनी और आटा घोटाला करके भी काफी पैसा कमाया था।
औरंगजेब आगे कहती हैं कि पाकिस्तान आकर किसी देश दूसरे के राजनयिक ने इमरान को हैंड गन तोहफे में दी थी। लेकिन इमरान ने इसे देश के डिपॉजिटरी में जमा करने की जगह महंगे दाम पर बेच दिया। इस बीच खबर है कि इमरान खान को कभी भी गिरफ्तार किया जा सकता है। पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, इमरान खाने खिलाफ ईशनिंदा की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है और उन्हें कभी भी गिरफ्तार किया जा सकता है।
वहीं, इमरान खान की पार्टी ने पूर्व प्रधानमंत्री के खिलाफ दर्ज किए गये मुकदमे को गैर-कानूनी बताया है, लेकिन रिपोर्ट है कि, इमरान खान के खिलाफ मौजूदा सरकार कड़ी कार्रवाई कर सकती है।
दरअसल, शहबाज शरीफ के सऊदी अरब दौरे के दौरान मदीना मस्जिद में ‘चोर-चोर’ और ‘गद्दार-गद्दार’ के नारे लगाए गये, जिसको लेकर सऊदी अरब की तरफ से काफी सख्त प्रतिक्रिया दी गई है और पाक मस्जिद का इस्तेमाल राजनीति के लिए करने के आरोप में कई पाकिस्तानियों को सऊदी अरब से वापस पाकिस्तान भेज दिया गया है। वहीं, इस्लामिक गुरुओं ने भी मदीना मस्जिद में नारेबाजी को नापाक बताया है। जिसको लेकर पाकिस्तान में इमरान खान समेत 150 से ज्यादा लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

शिकायत-समस्याओं के निस्तारण पर जोर दिया

शिकायत-समस्याओं के निस्तारण पर जोर दिया 

संदीप मिश्र  
लखनऊ। योगी सरकार 2.0 कार्यकाल की शुरुआत के साथ ही एक्शन मोड में नजर आ रही है। भ्रष्टाचार या लापरवाही पर अब तक कई वरिष्ठ अधिकारियों पर कार्रवाई की जा चुकी है। इसके साथ ही अफसरों की क्षमता के अनुसार शासन स्तर पर कई फेरबदल किए गए हैं। अब जल्द ही जिलों में तबादला एक्सप्रेस दौड़ने वाली है। माना जा रहा है कि अब तक मिली रिपोर्ट के अलावा मंडलों के प्रभारी के रूप में मंत्री जिलों का जो फीडबैक देंगे, उसके आधार पर भी अफसरों को फील्ड में नई तैनाती दी जाएगी।
योगी सरकार की मंशा है कि शासन की सभी योजनाओं का लाभ जमीनी स्तर पर आमजन को मिले। शिकायतों एवं समस्याओं के निस्तारण पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का खास जोर है। वह स्पष्ट निर्देश दे चुके हैं कि अधिकारी जन शिकायतों के प्रति गंभीर रहें।
दूरदराज क्षेत्रों से जनता को जनता दरबार में बेवजह न आना पड़े। इसके बावजूद तमाम मामले लापरवाही के सामने आए हैं, जिन पर हाल ही में कार्रवाई भी की गई है। अब बड़े पैमाने पर जिलों में तैनात पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों के तबादले की तैयारी है।
दरअसल, 18 मंडलों में मंत्रियों की अध्यक्षता में टीमें लगाई गई हैं। अधिकारियों के साथ जाकर मंत्री एक-एक जिले का दौरा कर रहे हैं। वहां व्यवस्थाओं को देख-परख रहे हैं। वह जो भी समस्या और समाधान की रिपोर्ट शासन को सौंपेंगे, उसके आधार पर भी प्रत्येक जिले के विकास की कार्ययोजना बनाई जानी है, जिसे डिस्ट्रिक्ट माडल प्लान नाम दिया गया है।
सूत्रों ने बताया कि मंत्रियों की इसी रिपोर्ट में यह भी फीडबैक होगा कि कहां अधिकारी व्यवस्थाओं का संचालन बेहतरी से कर पा रहे हैं और कहां नहीं। चूंकि, मंत्रियों से यह भी कहा गया है कि उन्हें आमजन से मिलकर उनका फीडबैक भी लेना है, इसलिए इस रिपोर्ट के आधार पर ही फील्ड यानी जिलों में तैनात अधिकारियों की वर्क रिपोर्ट तैयार कर बड़े स्तर पर स्थानांतरण किए जाएंगे।

नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में 1 जवान शहीद

नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में 1 जवान शहीद  

दुष्यंत टीकम         
नारायणपुर। छत्तीसगढ़ में जवानों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हो गई है। इस घटना में एक जवान शहीद हो गया हैं। ये मुठभेड़ नारायणपुर एवं दंतेवाड़ा के सीमावर्ती क्षेत्र तुलारगुफा और मंगारी के मध्य जंगल मे हुई है। शहीद जवान भानुप्रतापपुर के रहने वाला था और डीआरजी में पदस्थ था। जवान का नाम सालिकराम बताया जा रहा है।
बता दें नारायणपुर पुलिस को नारायणपुर एवं दंतेवाड़ा के सीमावर्ती क्षेत्र तुलारगुफा और मंगारी के जंगल मे नक्सलियों के होने की जानकारी मिली थी। इस सूचना के बाद डीआरजी के जवान सर्चिंग अभियान में जंगल पहुंचे हुए थे। जवानों को आता देखकर नक्सलियों में उनपर फायरिंग कर दी। दोनों तरफ से हुई फायरिंग में एक जवान शहीद हो गया है। वहीं जानकारी मिली है कि अभी भी मुठभेड़ जारी है।

ट्विटर: अग्रवाल की जगह लेंगे नए मुख्य अधिकारी

ट्विटर: अग्रवाल की जगह लेंगे नए मुख्य अधिकारी

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत
नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। जब से टेस्ला के सीईओ एलोन मस्क ने ट्विटर को 44 बिलियन डॉलर में खरीदा है। कर्मचारियों को लगातार अपनी नौकरी खोने की चिंता सता रही है। पिछले कुछ हफ्तों में सीईओ पराग अग्रवाल को छंटनी ट्विटर के भविष्य और बहुत कुछ के बारे में कई सवालों से घेर लिया गया है। जहां तक ​​नौकरियों में कटौती का सवाल है, अग्रवाल ने आश्वासन दिया कि फिलहाल ऐसा कुछ नहीं हो रहा है। लेकिन, रॉयटर्स की एक नई रिपोर्ट एक अलग कहानी बताती है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मस्क ने पहले ही ट्विटर के लिए एक नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी को लाइन में खड़ा कर दिया है। जो इस साल के अंत में 44 बिलियन डॉलर की बिक्री का सौदा पूरा होने के बाद अग्रवाल की जगह लेंगे। पिछले महीने, अरबपति ने ट्विटर के चेयरमैन ब्रेट टेलर से कहा कि उन्हें कंपनी के प्रबंधन पर भरोसा नहीं है, उन्होंने प्रबंधन स्तर पर पुनर्गठन का संकेत दिया।
पिछले नवंबर में सीईओ के रूप में जैक डोर्सी की जगह लेने वाले अग्रवाल से उम्मीद की जाती है कि जब तक मस्क को कंपनी की बिक्री पूरी नहीं हो जाती, तब तक वह अपनी भूमिका निभाएंगे। मस्क ने कथित तौर पर प्रतिस्थापन की पहचान प्रकट करने से इनकार कर दिया।
पहले यह बताया गया था कि मस्क को ट्विटर पर नियंत्रण में बदलाव के 12 महीनों के भीतर अग्रवाल को हटाने पर 43 मिलियन डॉलर का भुगतान करना होगा।
 रिपोर्ट से पता चला है कि मस्क ने कथित तौर पर ट्विटर के कानूनी प्रमुख विजया गड्डे को भी बर्खास्त करने की योजना बनाई है। यदि पद से हटा दिया जाता है, तो कहा जाता है कि गड्डे को ट्विटर शेयरों सहित $ 12.5 मिलियन का विच्छेद पैकेज मिलेगा। वह वर्तमान में लगभग $ 17 मिलियन प्रति वर्ष कमाती है और कंपनी में अत्यधिक भुगतान वाले अधिकारियों में से एक है।
रिपोर्ट में कहा गया है, गड्डे, जिन्होंने पिछले साल ट्विटर के शीर्ष कानूनी वकील के रूप में $1.7 मिलियन कमाए, चॉपिंग ब्लॉक पर हो सकते हैं।क्योंकि मस्क कथित तौर पर नौकरियों को कम करने और कार्यकारी वेतन को कम करने की योजना बना रहे हैं। क्योंकि वह अपनी ट्विटर बोली के लिए वित्तपोषण सुरक्षित करना चाहते हैं।

जनधन खाते को आधार से लिंक ज़रूर कराएं

जनधन खाते को आधार से लिंक ज़रूर कराएं

अंकुर कुमार
नई दिल्ली। जन धन योजना के तहत खोले गए बैंक खातों की संख्‍या जनवरी 2022 तक 44.23 करोड़ पर पहुंच चुकी थी। इस आंकड़े से जन धन खातों की लोकप्रियता का पता चलता है। इन खातों में जमा राशि भी जनवरी में 1.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक थी।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में अपने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में जनधन योजना शुरू करने की घोषणा की थी। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, कुल 44.23 करोड़ जन धन खातों में से 34.9 करोड़ खाते सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में और 8.05 करोड़ खाते क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों में खोले गए हैं। 1.28 करोड़ खाते निजी क्षेत्र के बैंकों में खोले गए हैं।
जनधन बैंक खाताधारकों को सरकार कई सुविधाएं उपलब्‍ध कराती हैं। जनधन खाता जीरो बैलेंस बचत खाता होता है। इसके अलावा इसमें ओवरड्राफ्ट और रूपे कार्ड समेत कई खास सुविधाएं मिलती हैं‌।इनमें बीमा कवर सबसे महत्‍वपूर्ण है।‌ जनधन खाता में खाताधारक के अपने आधार कार्ड से लिंक करवाना बहुत जरूरी है। ऐसा नहीं करवाने पर कई सुविधाओं को रोक दिया जाता है।
जनधन खाताधारक को रूपे डेबिट कार्ड दिया जाता है, जिसमें 1 लाख रु का दुर्घटना बीमा कवर उपलब्‍ध कराया जाता है। अगर कोई खाताधारक अकाउंट को आधार से लिंक नहीं कराता है तो वह इस बीमा कवर से वंचित रह जाता है। यही नहीं जनधन अकाउंट पर खाताधारक को 30,000 रु के एक्सीडेंटल डेथ इंश्योरेंस कवर भी मिलता है। यह भी जनधन खाते के आधार से लिंक होने पर ही मिलता है। खाताधारक को जनरल इंश्योरेंस कवर भी मिलता है। लेकिन, इन सभी सुविधाओं का फायदा उठाने के लिए जनधन खाते आधार से लिंक होना जरूरी है।
जनधन खाते को आधार से लिंक कराने के लिए जिस बैंक में यह खाता है, उस बैंक में जाएं।
आपको आधार कार्ड की फोटो कॉपी और बैंक पास बुक की कॉपी ले जानी होगी।
बैंक में एक फॉर्म भरना पड़ेगा। इसके बाद आपके जनधन खाते को आधार से लिंक कर दिया जाएगा।
SBI सहित कई बैंक ग्राहकों को केवल SMS के जरिए भी जनधन खाते को आधार से लिंक करने की सुविधा देते हैं।
इसके लिए रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से मैसेज में UIDआधार नंबरअकाउंट नंबर लिखकर 567676 नंबर पर भेज दें।
इस तरह आसानी से आपका खाता आधार से जुड़ जाएगा।
आप बैंक के एटीएम से भी आधार लिंक कर सकते हैं।

राजनीति: विधानसभाओं के दौरे पर निकलें सीएम

राजनीति: विधानसभाओं के दौरे पर निकलें सीएम

दुष्यंत टीकम  

बलरामपुर। बुधवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधानसभाओं के दौरे पर निकल गए हैं। जहां योजनाओं के धरातल पर रूबरू होने के साथ अधिकारियों के साथ विधायको की भी सांसे अटकी हुई है। जाहिर है, कि योजनाओं को धरातल पर अमलीजामा कितना पहनाया गया है और कोताही पर शामत आनी तय है। इसी के साथ आज सीएम भूपेश बलरामपुर जिले के सामरी विधानसभा के कुसमी में हैं और योजनाओं को बारीकी से देख रहे हैं। जैसे कि कयास लगाए जा रहे थे वही हुआ है। पहली शामत कुसमी नगरपंचायत सीएमओ के ऊपर गिरी है।

जो जानकारी है उस अनुसार सीएमओ को सस्पेंड कर दिया गया है, कुसमी के दौरे पर सीएम राशन दुकानों को देख रहे थे, तभी एक महिला ने सीएम से अपनी दास्तां सुना दी, कि वो तीन साल से राशन के लिए भटक रही है, उसने तमाम हाथ पैर मारे हैं। लेकिन, अब किसी ने उसके साथ न्याय नही किया है। तीन साल पहले जो उसका नाम गरीबी रेखा में था, उसे काट दिया गया है, और वह तब से राशन के लिए चक्कर लगा रही है। इस शिकायत के बाद सीएम भूपेश बघेल ने सीएमओ को सस्पेंड के निर्देश दे दिए। महिला का नाम शशिकला बताया जा रहा है।

भाजपा को राजस्थान में शांति हजम नहीं: सीएम

भाजपा को राजस्थान में शांति हजम नहीं: सीएम   

नरेश राघानी 

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए बुधवार को कहा कि उसे राजस्थान में शांति हजम नहीं हो रही है।इसलिए वह कांग्रेस और राज्य सरकार को बदनाम करने के षड्यंत्र में लगी है। इसके साथ ही गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार हिंसा के मामले में कोई समझौता नहीं करेगी और किसी भी कीमत पर दंगा नहीं होने दिया जाएगा।

कांग्रेस के चिंतन शिविर की तैयारियों के लिए उदयपुर पहुंचे गहलोत ने करौली के बाद जोधपुर की घटना की ओर इशारा करते हुए भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा,‘‘ भाजपा घबराई हुई है, भाजपा का अभी पूरे मुल्क में निशाना कोई है तो राजस्थान है, इसलिए आप देख रहे हो कि दंगे भड़क रहे हैं,जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा सवाई माधोपुर में आए थे तब भी मैंने कहा था कि ये आग लगाने आए हैं। आग लग गई करौली में।’’ जोधपुर में मंगलवार को हुए उपद्रव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘ जोधपुर में जो कुछ हुआ, कोई ऐसा मुद्दा नहीं था कि दंगा भड़कने की स्थिति आए। हम लोगों ने करौली में,राजगढ़ में, जोधपुर में, कहीं दंगा होने नहीं दिया और इसलिए कोई जनहानि नहीं हुई, कोई बड़ी घटना नहीं हुई, हादसा नहीं हुआ।’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ रामनवमी को राजस्थान में शांति रही जबकि देश के सात राज्यों में दंगे भड़के …बुलडोजर चले, वहां पर गरीबों पर, क्या-क्या नहीं हुआ है? यहां शांति रही, शांति इनको हजम नहीं हो रही है…..।’’ उन्होंने कहा कि राज्य सरकार हिंसा की घटनाओं के मामले में कोई समझौता नहीं करेगी और किसी भी कीमत पर दंगा नहीं होने देगी। उल्लेखनीय है कि ईद पर उपद्रव के बाद मुख्यमंत्री के गृहनगर जोधपुर में मंगलवार को कर्फ्यू लगा दिया गया। गहलोत ने कहा कि जोधपुर में अब शांति है और सद्भावना के प्रयास किए जा रहे हैं।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-208, (वर्ष-05)
2. बृहस्पतिवार, मई 5, 2022
3. शक-1984, वैशाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि-चतुर्थी, विक्रमी सवंत-2078‌‌। 
4. सूर्योदय प्रातः 05:38, सूर्यास्त: 06:57।
5. न्‍यूनतम तापमान- 28 डी.सै., अधिकतम-39+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...