रविवार, 9 अक्तूबर 2022

गाजियाबाद के तमाम इलाकों में जलभराव: व्यवस्था 

गाजियाबाद के तमाम इलाकों में जलभराव: व्यवस्था 

अश्वनी उपाध्याय 

गाजियाबाद। गाजियाबाद में शुक्रवार रात से बारिश जारी है, जो अब तक थमी नहीं है। बीते 24 घंटे में यहां करीब 64 मिलीमीटर बारिश हुई है। लगातार बारिश की वजह से तापमान गिरा है। रविवार सुबह 9 बजे का न्यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। मौसम विभाग के अनुसार, दिल्ली-एनसीआर में अभी एक से दो दिन तक बारिश देखने को मिलेगी। बारिश के चलते गाजियाबाद के तमाम इलाकों में जलभराव हो गया है। कई इलाकों में देर रात से बिजली सप्लाई तक नहीं है।

गाजियाबाद नगर निगम के वार्ड-19 संगम विहार में बारिश के बाद ये हाल हो गया है। घर से बाहर जाने तक का रास्ता नहीं बचा है। गाजियाबाद नगर निगम के वार्ड-19 संगम विहार में बारिश के बाद ये हाल हो गया है। घर से बाहर जाने तक का रास्ता नहीं बचा है।

वाल्मीकि के मंदिर में माल्यार्पण व पूजा-अर्चना की 

वाल्मीकि के मंदिर में माल्यार्पण व पूजा-अर्चना की 

गोपीचंद 

बागपत। सारथी वेलफेयर फाउंडेशन के तत्वाधान में रविवार को भगवान वाल्मीकि जयंती के अवसर पर पट्टी मेहर स्थित भगवान वाल्मीकि के मंदिर में माल्यार्पण व पुष्प चढ़ाकर पूजा-अर्चना की एवं मिष्टान वितरण किया गया। कार्यक्रम के दौरान फाउंडेशन की अध्यक्ष वंदना गुप्ता ने बताया कि वाल्मीकि जयंती हर साल आश्विन मास के दौरान पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है। महर्षि वाल्मीकि को संस्कृत साहित्य में अग्रदूत-कवि माना जाता है। उन्हें महाकाव्य रामायण के पहले कवि, आदि कवि के रूप में भी जाना जाता है।

वाल्मीकि को हिंदू धर्म में 'ज्ञान का सागर' भी कहा जाता है। उनका जन्म प्राचीन भारत में गंगा के किनारे हुआ था। पौराणिक कथा के अनुसार, राम ने सीता को वन भेजा। सीता ने ऋषि वाल्मीकि के आश्रम में शरण ली, जहाँ उन्होंने जुड़वां लड़कों लव और कुश को जन्म दिया. लव और कुश वाल्मीकि के पहले शिष्य थे, जिन्हें उन्होंने रामायण की शिक्षा दी थी। इस अवसर पर फाउंडेशन की अध्यक्ष वंदना गुप्ता वरिष्ठ उपाध्यक्ष शालू गुप्ता,पूजा ,प्रिया,  विकास गुप्ता,प्रवीण कुमार, संजय गुप्ता , ध्रुव जैन, अनिल अरोरा, अमन जैन, ऋषभ जैन,  आदित्य भारद्वाज आदि लोग मौजूद रहे।

मैच: भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 7 विकेट से हराया 

मैच: भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 7 विकेट से हराया 

मोमीन मलिक 

नई दिल्ली/प्रिटोरिया। भारत ने श्रेयस अय्यर (113 नाबाद) के शतक और ईशान किशन (93) के अर्द्धशतक की बदौलत दक्षिण अफ्रीका को दूसरे एकदिवसीय मैच में रविवार को सात विकेट से हराकर तीन मैचों की श्रृंखला 1-1 से बराबर की। दक्षिण अफ्रीका ने भारत के सामने 279 रन का लक्ष्य रखा था, जिसे भारत ने 45.5 ओवर में हासिल कर लिया।

भारत को इस लक्ष्य तक पहुंचाने के लिये अय्यर और किशन ने तीसरे विकेट के लिये 161 रन की मैच जिताऊ साझेदारी की। किशन ने इस साझेदारी में आक्रामक भूमिका निभाते हुए 84 गेंदों पर चार चौकों और सात छक्कों की बदौलत 93 रन बनाये। किशन एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपने पहले शतक से चूक गये, लेकिन अय्यर ने इस प्रारूप में अपना दूसरा शतक जड़ते हुए 111 गेंदों पर 15 चौकों के साथ नाबाद 113 रन बनाये और चौका लगाकर भारत को जीत दिलाई।

'पत्रकार' पर झूठा आरोप लगाकर जेल भेजा: झारखंड 

'पत्रकार' पर झूठा आरोप लगाकर जेल भेजा: झारखंड 

विवेक चौबे

गढ़वा। झारखंड में अभी भी पत्रकार बंधु सुरक्षित नहीं हैं। पत्रकारों को कभी माफियाओं के चंगुल में तो कभी प्रशासनिक चंगुल में फंसते हुए नजारा देखा जाता है। सवाल यह कि जब पत्रकार सुरक्षित नहीं हैं तो जनता कैसे सुरक्षित रह सकती है ? ऐसा कहा जाता है कि पत्रकारों को संविधान से ही मान्यता प्राप्त है कि वे लोकतंत्र के चौथे स्तंभ हैं, जो समाज में हो रहे अच्छाइयों व बुराइयों को दिखाने का प्रयास करते हैं। लेकिन वर्तमान समय की ऐसी बदतर स्थिति है कि पत्रकार जब सच्चाई को उजागर करता है तो उसे कहीं न कहीं टारगेट किया जाने लगता है और उसे गलत तरीके से फंसा दिया जाता है। पत्रकारों को कभी माफियाओं द्वारा हत्या कर दी जाती है, तो कभी पुलिस द्वारा बेवजह झूठा आरोप लगाकर जेल भेज दिया जाता है। 

ठीक इसी प्रकार का एक मामला प्रकाश में आया है कि एक सच्चे पत्रकार पर झूठा आरोप लगाकर पुलिस द्वारा जेल भेज दिया गया। विदित हो कि जिले के मेराल थाना क्षेत्र अंर्तगत हसनदाग गांव निवासी नाथन चौधरी की हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद सूचना पाकर मेराल थाना में पदस्थापित तत्कालीन थाना प्रभारी लाल बिहारी प्रसाद अपने दल-बल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे थे। उन्होंने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। इसके बाद शव को घर पर लाया गया, जहां परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया था। साथ ही पूरे गांव में शोक का लहर दौड़ गया था। हालांकि हसनदाग गांव के ही चार लोगों को शक के आधार पर पुलिस द्वारा गिरफ्तार भी किया गया था। 

वहीं, इस हत्याकांड का उदभेदन करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार मुश्ताक अंसारी नाथन चौधरी के परिजनों व ग्रामीणों से तहकीकात कर लगातार खबर प्रसारित कर रहे थे। इस दौरान तत्कालीन थाना प्रभारी लाल बिहारी प्रसाद द्वारा हत्याकांड के आरोपियों को दूसरे दिन ही छोड़ दिया गया, जिसकी सूचना मिलते ही स्थानीय ग्रामीण आक्रोशित हो गए। ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाया था कि हत्याकांड में संलिप्त अपराधियों से मोटी रकम लेकर थाना प्रभारी द्वारा आरोपियों को यूं ही रिहा कर दिया गया।

इसके बाद ग्रामीणों ने थाना प्रभारी के विरुद्ध योजना बना कर तकरीबन 400 लोगों ने थाना का घेराव किया, जहां स्थानीय ग्रामीणों द्वारा शांति पूर्ण तरीके से विरोध-प्रदर्शन किया जा रहा था। विरोध प्रदर्शन होते देख वर्दीधारियों में नया जोश व उमंग आया और मेराल के एक व्यक्ति पर लाठी चार्ज कर दिया गया। वहीं हासनदाग के लोग पुलिस के तो विरोध में थे ही, किन्तु लाठीचार्ज की घटना के बाद मेराल से भी बड़ी संख्या में लोग उक्त विरोध प्रदर्शन में शामिल हो गए। तब तक ग्रामीणों की संख्या 400 से बढ़ कर 10 हजार से अधिक हो गई थी, जिससे मेराल थाना में अफरा-तफरी का माहौल बन गया। नौबत यहां तक आ गयी कि ग्रामीणों व पुलिस-प्रशासन के बीच जमकर पथराव भी हुआ। पुलिस द्वारा आंसू गैस के गोले भी दागे गए। 

इस वक्त पत्रकार मुश्ताक अंसारी थाना के भीतर ही थाना प्रभारी के साथ मौजूद थे। वे पुलिस के सामने ही खबर कवरेज कर रहे थे। उग्र भीड़ को काबू करने के लिए तकरीबन 10 थाने की पुलिस आई थी। कुछ पुलिसकर्मियों ने ग्रामीणों की वाहनों को लाठी-डंडे से मार कर क्षतिग्रस्त कर डाला। पुलिस द्वारा की जा रही कार्यवाई को भी पत्रकार मुश्ताक अपने मोबाइल से कवर कर रहे थे। प्राप्त जानकारी के अनुसार एसपी व एसडीपीओ के कहने पर थाना प्रभारी के आदेशानुसार अंचलाधिकारी अंगरनाथ स्वर्णकार ने 21 नामजद व 400 से 500 तक अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज किया, जिसमें पत्रकार मुश्ताक पर भीड़ को उकसाने के मामले में मुख्य आरोपी बना कर प्राथमिकी दर्ज की गयी।

इस मामले में थाना प्रभारी द्वारा न्यायालय से वारेंट लेकर शुक्रवार को पत्रकार मुश्ताक को जेल भेज दिया गया। पूरे प्रकरण को भारती श्रमजीवी पत्रकार संघ की झारखण्ड इकाई ने गंभीरता से लेते हुए उक्त मामले को पलामू डीआईजी के समक्ष भी उठाया था। गढ़वा परिसदन में पत्रकार मुश्ताक के विरुद्ध झूठा मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने वाले सभी सम्बन्धित अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए झारखण्ड जर्नलिस्ट एसोसिएशन द्वारा पलामू प्रमंडल के सभी पत्रकारों की बैठक बुलाई गई है। इस बावत प्रदेश सचिव सियाराम शरण वर्मा व गढ़वा जिला अध्यक्ष प्रदीप चौबे ने कहा है कि आवयश्कता पड़ने पर मुख्यमंत्री से लेकर न्यायालय तक न्याय दिलाने के लिए संगठन लगातार अपना संघर्ष जारी रखेगा।

300 से ज्यादा प्रतिष्ठानों से 24 घंटे सर्विस ले सकेंगे

300 से ज्यादा प्रतिष्ठानों से 24 घंटे सर्विस ले सकेंगे

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली के लोगों को फेस्टिवल सीजन में दिवाली गिफ्ट मिलने वाला है। अगले हफ्ते से अब दिल्ली वासी 300 से ज्यादा प्रतिष्ठानों से 24 घंटे सर्विस ले सकेंगे। इनमें रेस्टोरेंट से लेकर मेडिकल शॉप्स तक शामिल हैं। इसका नोटिफिकेशन जारी करने के आदेश उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने दे दिए हैं। इनमें से कई प्रतिष्ठान 2016 से इसकी अनुमति चाह रहे थे, लेकिन उनके आवेदन पेंडिंग पड़े हुए थे।चौबीस घंटे डिलीवरी सुविधा में होटल-रेस्टोरेंट, खाने-पीने से संबंधित ऑनलाइन डिलीवरी करने वालों के साथ 24 घंटे दवाइयां उपलब्ध कराने वाले प्रतिष्ठानों को भी शामिल किया गया है। इसके तहत 314 प्रतिष्ठानों को अनुमति दी जा रही है। उम्मीद की जा रही है कि इस फैसले से बड़े शहरों में प्रचलित ‘नाइट लाइफ’ कल्चर को भी बढ़ावा मिलेगा। बता दें कि इसमें ट्रांसपोर्ट-ट्रैवल सहित कई KPO और BPO को भी शामिल किया गया है।

प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए उपराज्यपाल ने प्रतिष्ठानों के द्वारा किए गए आवेदनों को निपटाने में श्रम विभाग की ओर से देर लगाने जैसे मुद्दे भी उठाए। बता दें कि कुल 346 आवेदन लंबित थे, जिनमें 2016 के 18 आवेदन, 2017 के 26, 2018 के 83 आवेदन, 2019 के 25, 2020 के 04, और 2021 के 74 आवेदनों पर आज तक श्रम विभाग ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए एलजी ने यह बात भी नोट की कि देरी से यह पता चलता है कि श्रम विभाग अव्यवसायिक रवैया जाहिर कर रहा था। आवेदनों को प्रोसेस करने में विभाग ‘पिक एंड चॉइस पॉलिसी’ अपना रहा था। इस तरह की व्यवस्था में भ्रष्ट आचरण भी किया जा सकता है। एलजी ने यह बात भी नोट की कि इस तरह के नियमित आवेदनों की ज्यादा लेट किए जाने से बड़े पैमाने पर व्यापारिक समुदाय में अविश्वास की भावनाएं पैदा हो सकती हैं।

एलजी ने सख्ती के साथ सलाह दी कि इस तरह के आवेदनों को एक निर्धारित समय सीमा के भीतर निपटाया जाता है, ताकि एक अनुकूल निवेशक अनुकूल कारोबारी माहौल और दिल्ली के उद्यमियों और व्यापारिक समुदाय में बड़े पैमाने पर सकारात्मक विश्वास पैदा किया जा सके।उपराज्यपाल ने श्रम विभाग को यह सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया है कि भविष्य में इस तरह की देरी न हो, पारदर्शी और प्रभावी निगरानी के लिए एक तंत्र विकसित किया जाए, लंबित होने के कारणों का पता लगाया जाए। जिम्मेदारी तय की जाए और दोषी अधिकारियों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए।

क्या-क्या मिलेगी सुविधा ?

24 -7 खुले रह सकते हैं रेस्तरां, होटल।

24 -7 डिलिवरी के लिए भी इजाज़त।

300 तरह की सेवाएं चालू रह सकती हैं।

पिछड़े वर्गों के प्रति उदासीन रवैया अपना रहे नीतीश

पिछड़े वर्गों के प्रति उदासीन रवैया अपना रहे नीतीश 

अविनाश श्रीवास्तव 

पटना। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आरोप लगाया कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अत्यंत पिछड़े वर्गों (ईबीसी) के प्रति उदासीन रवैया अपना रहे है, जो सामान्यत: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थक हैं।पूर्व उपमुख्यमंत्री ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में शहरी निकाय चुनावों में अन्य पिछड़े वर्गों (ओबीसी) और ईबीसी के लिए कोटे को पटना हाई कोर्ट द्वारा अवैध घोषित किये जाने को लेकर कुमार को जिम्मेदार ठहराया और उनके इस्तीफे की मांग की। अदालत के फैसले से चुनाव प्रक्रिया अधर में लटक गयी है।

मोदी ने दावा किया, ‘राज्य के महाधिवक्ता ललित किशोर ने चार फरवरी और 12 मार्च को पत्राचार के माध्यम से राज्य सरकार को इस तरह के आरक्षण के लिए उच्चतम न्यायालय के ‘ट्रिपल टेस्ट’ मानकों पर अमल के लिए एक आयोग गठित करने की सलाह दी थी। राज्य चुनाव आयोग (एसईसी) ने भी इस मामले में 22 मार्च और 11 मई को सरकार से निर्देश मांगा था।’राज्यसभा सांसद ने दावा किया, लेकिन, मुख्यमंत्री की जिद के कारण, महाधिवक्ता को अपनी राय बदलनी पड़ी। हालांकि, राज्य चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में हुए नगरपालिका चुनावों को प्रभावित करने वाले हाई कोर्ट के आदेश के मद्देनजर एक बार फिर कहा कि बिहार में भी (ऐसे आरक्षण के लिए) ‘ट्रिपल टेस्ट’ के सिद्धांत का पालन किया जाना चाहिए। इस मामले में टिप्पणी के लिए महाधिवक्ता से सम्पर्क नहीं हो सका है। मोदी ने जोर देकर कहा कि एसईसी और राज्य सरकार के विरोधाभासी दृष्टिकोण के कारण उच्च न्यायालय ने चार अक्टूबर को आरक्षण रद्द कर दिया।

पूर्व उपमुख्यमंत्री ने कहा, कुमार जानते हैं कि ईबीसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थक हैं इसलिए उन्होंने उनके हाल पर छोड़ दिया है। हम मांग करते हैं कि ओबीसी और ईबीसी कोटा के लिए सभी आवश्यक मानदंडों को पूरा करते हुए नगर निगम चुनाव जल्द से जल्द कराए जाएं। मोदी ने साथ ही यह भी कहा कि जिन उम्मीदवारों ने चुनाव प्रचार में अपना पैसा गंवाया है, उन्हें राज्य सरकार मुआवजा दे। उन्होंने यह भी मांग की कि कुमार ईबीसी के ‘अपमान’ के लिए नैतिक जिम्मेदारी लें और अपना इस्तीफा दें। मोदी ने याद दिलाया कि जब 2007 में शहरी स्थानीय निकायों में ईबीसी के लिए कोटा लागू किया गया था, तब वह राज्य के शहरी विकास मंत्री थे।

उन्होंने आरोप लगाया, ‘ट्रिपल टेस्ट के मानकों के अनुपालन का उच्चतम न्यायालय का आदेश पिछले 12 महीनों से लागू है। नीतीश कुमार अड़े रहे और इस धारणा के तहत काम करते रहे कि सिर्फ इसलिए कि 2007, 2012 और 2017 में ‘ट्रिपल टेस्ट’ के बिना चुनाव हुए थे और उन्हें इस बार भी अनुमति दी जाएगी। (लेकिन) परिणाम एक ऐसे फैसले में रूप में आया है, जो ईबीसी को उनके अधिकारों से वंचित करता है।’

शिवसेना धड़े ने चुनाव चिन्ह के 3 विकल्प सुझाए

शिवसेना धड़े ने चुनाव चिन्ह के 3 विकल्प सुझाए

कविता गर्ग 

मुंबई। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले शिवसेना धड़े ने निर्वाचन आयोग को अपने चुनाव चिन्ह के लिए त्रिशूल, उगता सूरज या मशाल के रूप में तीन विकल्प सुझाए हैं। सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी। निर्वाचन आयोग ने अंधेरी ईस्ट विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में शिवसेना के उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे नीत दोनों गुटों के पार्टी के नाम और चुनाव चिन्ह का उपयोग करने पर शनिवार को पाबंदी लगा दी थी। पार्टी के दोनों गुटों द्वारा नाम और चुनाव चिह्न पर दावा किए जाने की पृष्ठभूमि में एक अंतरिम आदेश जारी कर निर्वाचन आयोग ने दोनों से कहा था कि वे सोमवार तक अपनी-अपनी पार्टी के लिए तीन-तीन नए नाम और चुनाव चिन्ह सुझाएं।

आयोग दोनों गुटों द्वारा सुझाए गए नामों और चुनाव चिह्नों में से उन्हें किसी एक का उपयोग करने की अनुमति देगा। ठाकरे खेमे के एक सूत्र ने कहा, ‘‘शिवसेना ने निर्वाचन आयोग को अपने चुनाव चिन्ह के लिए त्रिशूल, उगता सूरज या मशाल के रूप में तीन विकल्प सुझाए हैं।’’ अधिक विवरण साझा किए बिना सूत्र ने बताया कि ठाकरे खेमे ने चुनाव में अपने आधिकारिक नाम के लिए भी कुछ विकल्प सुझाए हैं।

चुनाव जीतने के लिए कुछ भी कर सकती है 'भाजपा'

चुनाव जीतने के लिए कुछ भी कर सकती है 'भाजपा'

विमलेश यादव 

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और दूसरी बार द्रविड मुन्नेत्र कषगम (द्रमुक) के अध्यक्ष चुने गये एम.के.स्टालिन रविवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 2024 के लोकसभा चुनाव जीतने के लिए कुछ भी कर सकती है और इसके लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को सतर्क रहना चाहिए। द्रमुक जनरल काउंसिल को सम्बोधित करते हुए श्री स्टालिन ने कहा कि उन्हें पार्टी के शीर्ष पद के लिए निर्विरोध चुना गया है।

उन्होंने कहा कि जब से उन्होंने पार्टी प्रमुख का पद संभाला है तब से द्रमुक केवल जीत ही मिली है। उन्होंने कहा कि हमने 2019 का लोकसभा चुनाव, 2021 का विधानसभा चुनाव और हाल में हुए शहरी स्थानीय निकायों के चुनाव जीते है। उन्होंने कहा कि द्रमुक 2024 के आम चुनावों तमिलनाडु की सभी 39 तथा केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी की एक सीट जीतने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं से सुस्त नहीं रहना चाहिए क्योंकि 2024 के लोकसभा चुनावों में जीत 2026 में होने वाले राज्य में अगले विधानसभा चुनावों में द्रमुक की 100 प्रतिशत जीत का आधार बनेगी। उन्होंने कहा, “हम एक महत्वपूर्ण मोड़ पर हैं। लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहा है। हमें सभी 40 सीटें जीत कर राष्ट्रीय स्तर पर एक महत्वपूर्ण ताकत के रूप में उभरना चाहिए।”

उन्होंने कहा कि भाजपा कुछ भी करेगी। भाजपा 2024 के लोकसभा चुनाव जीतने के लिए किसी भी स्तर की राजनीति करेगी। उनके पास कुछ भी नहीं है और वे चुनाव के लिए हमारे बारे में अफवाह फैलाएंगे। उन्होंने भाजपा पर पर धार्मिक और आध्यात्मिक भावनाओं को भड़काकर राजनीति करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि तमिलनाडु के लोगों ने कभी राजनीति और अध्यात्म का मिश्रण नहीं किया है इसलिए अब भाजपा की सांस फूल रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा अपने राजनीतिक लाभ के लिए विपक्षी अन्नाद्रमुक में अंदरूनी कलह का फायदा उठाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि कोई भी पार्टी सक्षम और मजबूत नेतृत्व के साथ ही आगे बढ़ सकती है। उन्होंने कहा कि दिवंगत मुख्यमंत्री जे.जयललिता के निधन के बाद अन्नाद्रमुक के पास कोई सक्षम नेतृत्व नहीं है और पार्टी चार टुकड़ों में बंटी हुई है। उसकी नीति हर समय केवल द्रमुक का विरोध करना है।

डीएनए नमूने का मिलान केवल सहायक साक्ष्य है

डीएनए नमूने का मिलान केवल सहायक साक्ष्य है

इकबाल अंसारी 

बेंगलुरू। कर्नाटक उच्च न्यायालय ने कहा है कि डीएनए नमूने का मिलान नहीं होने से आरोपी निरपराध साबित नहीं हो जाएगा, क्योंकि यह केवल सहायक साक्ष्य है। अदालत ने 43 वर्षीय उस बस कंडक्टर की याचिका खारिज कर दी, जिस पर 12 वर्षीय एक रिश्तेदार के साथ बलात्कार करने और उसे गर्भवती कर देने का आरोप है। डीएनए जांच से इस बात का पता चलने के बाद कि उसके (कंडक्टर के) रक्त का नमूना और भ्रूण के रक्त मिलान नहीं होने पर, आरोपी ने अपने खिलाफ दर्ज मामले को रद्द करने का अनुरोध करते हुए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था।

आरोपी मैसूर का रहने वाला है। उसे यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत आरोपित किया गया है। पीड़िता की मां ने 19 फरवरी 2021 को एक शिकायत दर्ज कराई थी। बस कंडक्टर पर आरोप है कि उसने बच्ची का यौन शोषण किया, जिससे वह गर्भवती हो गई। पुलिस ने मामले में आरोप-पत्र दाखिल कर दिया, जबकि डीएनए जांच की रिपोर्ट अभी लंबित थी। जब रिपोर्ट आई तो पता चला कि आरोपी और भ्रूण के रक्त के नमूने का मिलान नहीं हो रहा था। आरोपी ने यह कहते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया कि पीड़िता के गर्भवती होने के लिए वह जिम्मेदार नहीं है। सरकारी वकील ने दलील दी कि बच्ची ने बयान दिया था कि आरोपी ने उसका यौन उत्पीड़न किया था और इसलिए, डीएनए के नमूने के मेल न खाने के बावजूद, मुकदमा जारी रखना पड़ेगा।

न्यायमूर्ति एम नागप्रसन्ना ने 15 सितंबर को फैसला सुनाते हुए कहा था कि कहा था कि डीएनए विश्लेषण में भले ही यह पता चलता हो कि आरोपी भ्रूण का जैविक पिता नहीं था, ‘‘यह याचिकाकर्ता को इस तरह के कथित अपराधों के लिए पूरी तरह से दोषमुक्त नहीं कर सकेगा।’’ निचली अदालत को दिए गए पीड़िता के बयान का हवाला देते हुए, उच्च न्यायालय ने कहा, “याचिकाकर्ता के वे सभी अक्षम्य कृत्य हैं, जब तक कि वह निर्दोष साबित न हो जाए। पीड़िता के इस बयान को खारिज नहीं किया जा सकता कि याचिकाकर्ता ने जबरन उसके साथ यौन संबंध बनाए थे।’

मनोरंजन: फिल्म 'कश्मीर फाइल्स' का रिकॉर्ड ध्वस्त

मनोरंजन: फिल्म 'कश्मीर फाइल्स' का रिकॉर्ड ध्वस्त

कविता गर्ग 

मुंबई। तरह-तरह की बयानबाजी के बीच बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचाते हुए रिकॉर्ड बनाने वाली फिल्म 'कश्मीर फाइल्स' का भी अब रिकॉर्ड ध्वस्त हो गया है। बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई कर रही मणि रत्नम की फिल्म 'पोन्नियन सेलवन' के हाथों कश्मीर फाइल्स को अपने रिकॉर्ड को टूटता देखने को मजबूर होना पड़ा है। क्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई करने में लगी मणि रत्नम की नई फिल्म पोन्नियन सेलवन ने रिलीज के नौवें दिन बॉक्स ऑफिस पर जबर्दस्त कमाई को जारी रखते हुए 60 प्रतिशत का उछाला लिया है। विक्रम चियान और ऐश्वर्या राय तथा कई अन्य जाने-माने अभिनेता से सुसज्जित यह फिल्म दर्शकों का दिल जीतने में लगातार कामयाबी प्राप्त कर रही है।

देश भर में ही नहीं बल्कि वर्ल्ड वाइड फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त दर्शकों का रिस्पांस मिल रहा है। तमिलनाडु में मणि रत्नम की यह फिल्म ब्लॉकबस्टर पिक्चर साबित हो रही है। अब मणिरत्नम की इस नई नवेली फिल्म ने रिलीज के नौवें दिन कमाई के लिहाज से हाईएस्ट विरासत फिल्म रही द कश्मीर फाइल्स के वर्ल्ड वाइड लाइफटाइम कलेक्शन के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। दा कश्मीर फाइल का लाइफटाइम कलेक्शन 340 करोड रुपए का रहा था लेकिन इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 14-15 करोड़ रुपए की कमाई करते हुए वर्ल्ड वाइड 355 करोड रुपए की कुल कमाई अभी तक बटोर ली है।

सत्ता वह चाबी है, जिससे तरक्की के दरवाजे खुलते है 

सत्ता वह चाबी है, जिससे तरक्की के दरवाजे खुलते है 

संदीप मिश्र 

लखनऊ। बहुजन समाज को एक सामूहिक व संगठित राजनीतिक शक्ति में पिरोकर उन्हें लेने वाला नहीं बल्कि हर प्रकार से "देने वाला हुकमरान (शासक) समाज" में उत्थान करने के लिए सर्वप्रथन बामसेफ, डीएस-4 एवं बहुजन समाज पार्टी (बी.एस.पी) के जन्मदाता व संस्थापक बहुजन नायक कांशीराम को आज उनकी पुण्यतिथि पर नमन् व अपार श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए बी.एस.पी. की राष्ट्रीय अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व पूर्व सांसद  मायावती ने कहा कि खासकर यूपी के लोगों ने यहाँ चार बार अपनी पार्टी की सरकार बनाकर यह देख लिया है कि सत्ता वह मास्टर चाबी है, जिससे तरक्की के तमाम बंद दरवाजे खुल सकते हैं, इसीलिए यह मिशनरी अभियान हर कीमत पर जरूर जारी रहना चाहिए।

देश के बहुजन समाज के गरीब, पिछड़े एवं उपेक्षित लोग आजादी के बाद के 75 वर्षों के लम्बे इतिहास काल के दौरान अपना संवैधानिक व कानूनी हक माँगते माँगते काफी परेषान हो चुके हैं और अब अपनी पूरी ताकत व शिद्दत के साथ "हुकमरान समाज" बनने के मिशनरी अभियान में मुस्तैदी के साथ जुट जाना चाहते हैं। इसीलिए जब जागो तब सवेरा अर्थात् खासकर यूपी में आने वाला निकाय चुनाव सहित अगला कोई भी चुनाव आपकी आजमाइश एवं चुनौती हो सकता है, जिसकी तैयारी व सफलता बहुत कुछ परिवर्तन की राह आसान कर सकती है। यही आज के दिन का संदेश है जिसे संकल्प के रूप में अंगीकार करके आगे बढ़ना है।

वैसे भी इस प्रकार के महान लक्ष्यों की प्राप्ति के दौरान कठिन चुनौतियों की घड़ी सामने आती रहती है, जिससे निराश व हताश हुए बिना ही तथा केवल अपने आप पर ही पूरा-पूरा भरोसा करके पूरे तन, मन, धन के साथ संघर्ष में तीव्रता के साथ लगे रहना है। कौन कहाँ आया, कौन कहाँ गया, ऐसे निजी स्वार्थी लोगों की परवाह किए बिना आपको अपना कदम गजबूती के साथ आगे बढाते रहना है। बहुजन मूवमेन्ट कल भी जीवित व जीवन्त था, आज भी है और आगे भी ऐसा ही रहेगा।

आज पुण्यतिथि के अवसर पर जब लोग मान्यवर  कांशीराम जी को अपने अपने हिसाब से जगह-जगह नमन, स्मरण व श्रद्धा सुमन अर्पित कर रहे है तो उन्हें यह जरूर याद रखना चाहिए कि मान्यवर श्री कांशीराम जी उस महान हस्ती शख्सियत व महापुरुष का नाम है जिन्होंने देश में करोड़ों गरीबों, मजदूरों, दलितों, पिछड़ों एवं अन्य सभी उपेक्षितों के नसीहा परमपूज्य बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के लम्बे समय तक अंधकार में बिखरे पड़े हुये कारवों को जिन्दा व मजबूत करके उसे"हुकमरान समाज बनाने के लिए आजीवन कड़ा संघर्ष एवं जबर्दस्त जद्दोजहद करते रहे और इस महान उद्देश्य में वे कुछ हद तक सफल भी रहे जब उत्तर प्रदेश में बी. एस.पी. की चार बार मेरे नेतृत्व में सरकार बनी व उस दौरान "सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय" की आदर्श मानवतावादी नीति एवं कार्यक्रम को अपनाते हुए कानून द्वारा कानून का राज पहली बार यहाँ सही मायने में स्थापित करके समस्त जनता को पूरी निष्पक्षता के साथ रोजगार, अमन-चैन, सुख-शान्ति व समृद्धि प्रदान की गई।

मायावती स्वयं आज सुबह बी.एस.पी. उत्तर प्रदेश स्टेट यूनिट कार्यालय 12 माल एवेन्यू में पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ  काशीराम जी की भव्य प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि व श्रद्धा सुमन अर्पित किया। साथ ही यूपी की राजधानी लखनऊ में बी. एस. पी. सरकार द्वारा स्थापित भव्य एवं आकर्षक गुम्बदाकार "मान्यवर कांशीराम स्मारक स्थल में भी इनके द्वारा उन्हें वहाँ उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण व श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया जबकि पार्टी के अन्य बाकी पदाधिकारियों ने अपने-अपने कार्यक्षेत्र के मण्डलों में आयोजित पार्टी कार्यक्रमों में भारी जन भागीदारी के साथ शिरकत की।

बहुजन नायक मान्यवर  कांशीराम के इस प्रकार के सामाजिक परिवर्तन व आर्थिक मुक्ति के बहुमूल्य योगदान के कारण ही आज उनको उनकी पुण्यतिथि पर देश भर में पार्टी से जुड़े लोगों एवं उनके अनुयाइयों द्वारा विभिन्न आयोजनों आदि के जरिए इनको भावभीनी श्रद्धांजलि व श्रद्धा सुमन अर्पित कर नमन व स्मरण कर रहे हैं। खासकर उत्तर प्रदेश में जहाँ बी. एस.पी. ने देश में पहली बार अपनी सरकारें बनाई व उनकी मंशा के हिसाब से सरकार चलाई, यहाँ गाँव-गाँव में इनके अपार अनुयाइयों ने जिस भी रूप में इनकी पुण्यतिथि आयोजित करके पूरी श्रद्धा के साथ इनको नमन, स्मरण एवं श्रद्धा सुमन अर्पित कर रहें हैं उन सभी का सुश्री मायावती जी ने अपनी व पार्टी की ओर से हार्दिक धन्यवाद व बहुत - बहुत आभार प्रकट किया।

अन्त में उल्लेखनीय है कि देश में अन्याय - मुक्त, शोषण मुक्त एवं जाति विहीन मानवतावादी समतामूलक सामाजिक व्यवस्था बनाने के लिये बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के कारवाँ को आगे बढ़ाने हेतु सम्पूर्ण जीवन समर्पित करके अपना सब कुछ उस मूवमेन्ट को न्योछावर करने वाले मान्यवर श्री कांशीराम जी के आदर-सम्मान में सुश्री मायावती जी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में बनी बी.एस.पी. की सरकार द्वारा अनेकों जनकल्याणकारी कार्यक्रम एवं परियोजनायें चलायी गयीं एवं उनके नाम पर अनेकों कॉलेज, विश्वविद्यालय व अन्य शिक्षण संस्थायें एवं उनके नाम पर नये जिले आदि स्थापित किये गये जो जातिगत द्वेष के कारण विरोधियों के आँखों की लगातार किरकिरी बन गए हैं व ऐसे उपयोगी स्थलों. स्मारकों व पार्कों आदि की उपेक्षा भी की जा रही है।

उत्तर प्रदेश में बी.एस.पी. सरकार द्वारा मान्यवर  कांशीराम  के जीवन संघर्ष एवं उनकी स्मृतियों को चिरस्थायी बनाने के लिये जो अन्य प्रमुख काम किये गये हैं, उनमें लखनऊ के वी.आई.पी. रोड पर स्थित भव्य  कांशीराम  स्मारक स्थल तथा उसी के समीप  कांशीराम जी ग्रीन (इको) गार्डेन का निर्माण प्रमुख है, जिससे राजधानी लखनऊ को एक नई पहचान मिली है। साथ ही मान्यवर श्री कांशीराम जी यादगार विश्राम स्थल एवं 'बहुजन नायक पार्क का निर्माण भी कराया गया और वी. आई. पी. रोड पर ही दूसरी तरफ 'बौद्ध विहार शांति उपवन में मान्यवर  कांशीराम  की भव्य प्रतिमा स्थापित की गयी है जो ये सभी आकर्षक जन उपयोगी व पर्यटन स्थल होने के बावजूद केवल इनके बहुजन स्वाभिमान स्थल होने के कारण इनके रख-रखाव के प्रति पूर्व की समाजवादी पार्टी व वर्तमान में भाजपा की सरकार भी इनकी घोर उपेक्षा कर रही है।

इसके अलावा बी.एस.पी. सरकार द्वारा  काशीराम जी पर्यटन प्रबन्ध संस्थान स्थापित किया गया, जिसमें बीबीए एवं बीबीए ( टूरिज्म) के नये पाठ्यक्रम संचालित किये गये श्री काशीराम जी पर्यावरण भवन का निर्माण एवं  कांशीराम बाल चिकित्सालय की स्थापना के महत्वपूर्ण काम किये गये। साथ ही, श्री काशीराम जी अन्तर्राष्ट्रीय खेल पुरस्कार, मान्यवर श्री कांशीराम जी सामाजिक परिवर्तन सम्बन्धी पुरस्कार एवं मान्यवर श्री कांशीराम जी राज्य हथकरघा पुरस्कार की शुरुआत की गयी । मान्यवर श्री कांशीराम जी की याद में कला सम्मान पुरस्कार तथा निर्यात प्रोत्साहन हेतु मान्यवर श्री कांशीराम जी निर्यात पुरस्कार भी स्थापित किया गया।

बी. एस.पी. सरकार द्वारा मान्यवर श्री कांशीराम के जन्मदिन 15 मार्च एवं उनके परिनिर्वाण दिवस दिनांक 09 अक्तूबर को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया। इसके अलावा, दिल्ली के नजदीक नोएडा में निर्मित राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल में डा. भीमराव अम्बेडकर के मानवतावादी मूवमेन्ट को गति प्रदान करने वाले मान्यवर श्री कांशीराम जी को भी पूरा-पूरा आदर-सम्मान दिया गया। श्री कांशीराम जी कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, बाँदा की स्थापना के अलावा, श्री कांशीराम जी के नाम से जिला कांशीराम नगर का गठन, मान्यवर श्री काशीराम जी राजकीय मेडिकल कॉलेज, सहारनपुर में स्थापना व मान्यवर श्री कांशीराम जी शहरी गरीब आवास योजना के अन्तर्गत गरीबों के लिए लगभग लाखों आवासों का निर्माण कराया गया।(3)

इसके साथ-साथ मान्यवर श्री कांशीराम जी यू.पी. इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की स्थापना तथा लखनऊ में मान्यवर श्री कांशीराम जी उर्दू अरबी-फारसी विश्वविद्यालय की भी स्थापना की गयी, जिसका नया नामकरण कर दिया गया है। शहरी दलित बाहुल्य बस्तियों के विकास के लिए भी मान्यवर श्री कांशीराम जी शहरी दलित बाहुल्य बस्ती समग्र विकास योजना भी प्रारम्भ की गयी थी। इन युग परिवर्तनीय कार्यों के लिये माननीया बहनजी का मजबूत नेतृत्व हमेशा ही याद किया जाता रहेगा। कुल मिलाकर बी.एस.पी प्रमुख सुश्री मायावती जी का मान्यवर श्री कांशीराम जी के सभी अनुयाइयों से यही कहना है कि वे इनके बताये हुये रास्तों पर चलकर अपने मसीहा व भारतीय संविधान के मूल निर्माता परमपूज्य बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के अधूरे कारवाँ को पूरा करने के लिए दिन-रात कड़ी मेहनत के साथ कार्य में लगे, यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी तथा इसी में ही सर्वसमाज का हित निहित व भविष्य भी सुरक्षित है।

मुलायम की तबीयत में आठवें दिन भी सुधार नहीं

मुलायम की तबीयत में आठवें दिन भी सुधार नहीं 

संदीप मिश्र/राणा ओबरॉय 

लखनऊ/गुरुग्राम। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के अलावा केंद्र में मंत्री रह चुके समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के स्वास्थ्य को लेकर आ रही खबर के मुताबिक उनकी तबीयत में आठवें दिन भी कोई सुधार नहीं आया है। डॉक्टरों का कहना है कि आईसीयू के वेंटिलेटर पर इलाजरत मुलायम सिंह यादव के लिए अगले 24 से 48 घंटे काफी महत्वपूर्ण है। समाजवादी पार्टी के संरक्षक एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके मुलायम सिंह यादव का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में अभी तक इलाज चल रहा है। आठवें दिन भी सपा संरक्षक की हालत में कोई सुधार नहीं आया है।

मेदांता की ओर से जारी किए गए मुलायम सिंह यादव के हेल्थ बुलेटिन में कहा गया है कि उनकी हालत अभी तक क्रिटिकल बनी हुई है। उन्हें जीवन रक्षक दवाओं के सहारे रखा जा रहा है। मुलायम सिंह यादव के संबंध में अस्पताल के चिकित्सकों का कहना है कि सपा संरक्षक के लिए अगले 24 से 48 घंटे बहुत ही महत्वपूर्ण है। दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य कई स्थानों पर सपा संरक्षक के बेहतर स्वास्थ्य की कामना के लिए दुआओं का दौर चल रहा है।

पैगम्बर के जन्मदिन, मिलाद-उन-नबी की मुबारकबाद 

पैगम्बर के जन्मदिन, मिलाद-उन-नबी की मुबारकबाद 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली राष्ट्रपति द्रौपदी मूर्मू ने पैगम्बर मुहम्मद के जन्मदिन, मिलाद-उन-नबी के पावन अवसर पर देशवासियों को मुबारकबाद दी है। राष्ट्रपति द्रौपदी मूर्मू ने आज ट्वीट कर कहा कि पैगम्बर मुहम्मद के जन्मदिन, मिलाद-उन-नबी के पावन अवसर पर मैं सभी देशवासियों, विशेष रूप से मुस्लिम भाइयों-बहनों को मुबारकबाद देती हूं।

उन्होंने कहा कि आज हम सब पैगम्बर मुहम्मद के जीवन से प्रेरणा लेकर परस्पर सौहार्द के साथ देश की प्रगति के लिए कार्य करते रहने का संकल्प करें।

देश में मुसलमानों की आबादी गिर रही है: ओवैसी

देश में मुसलमानों की आबादी गिर रही है: ओवैसी

विमलेश यादव

हैदराबाद। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने पलटवार क‍िया है। ओवैसी ने दावा क‍िया है क‍ि देश में मुसलमानों की आबादी गिर रही है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा क‍ि चिंता मत करो। मुस्लिम आबादी नहीं बढ़ रही है, बल्कि गिर रही है। उन्‍होंने कहा क‍ि सबसे ज्यादा कंडोम का उपयोग मुसलमान कर रहे हैं और मोहन भागवत को आंकड़े सामने रखकर बात करनी चाहिए। दरअसल आरएसएस प्रमुख ने बीते द‍िनों एक बयान में कहा था क‍ि भारत में धार्मिक असंतुलन है। ओवैसी के ताजा बयान को उसी के जवाब के तौर पर देखा जा रहा है।

हैदराबाद में आयोज‍ित रैली में एआईएमआईएम प्रमुख और हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा क‍ि मोहन भागवत कहते हैं क‍ि देश में मजहबी असंतुल हो रहा है। ऐसे में आबादी पर सोचना पड़ेगा। टोटल फर्टिलिटी रेट (TFR) दो फीसदी है। ओवैसी ने कहा क‍ि देश में मुस्‍ल‍िमों की प्रजनन दर में कमी आई है। भागवत से पूछना चाहते हूं कि 2000 से 2019 तक 90 लाख हिंदू बहनों की संतानें गायब हैं। अंग्रेजी में इसे फीमेल फेटिसाइड (कन्या भ्रूण हत्या) बोलते हैं। भागवत इस पर क्यों नहीं बोलते?

एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने एक कार्यक्रम में कहा क‍ि देश में जहां कहीं भी बीजेपी की सरकार है, ऐसा लगता है कि मुसलमान खुली जेल में रह रहे हैं। देश में मुसलमानों से ज्यादा सड़क पर कुत्ते के लिए सम्मान है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि देश पहले ही प्रतिस्थापन दर हासिल कर चुका है। ओवैसी ने एक ट्वीट में कहा क‍ि यदि हिंदुओं और मुसलमानों का एक ही डीएनए है तो असंतुलन कहां है? जनसंख्या नियंत्रण की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि हमने पहले ही प्रतिस्थापन दर हासिल कर ली है। चिंता एक बूढ़ी होती आबादी और बेरोजगार युवाओं को लेकर है जो बुजुर्गों की सहायता नहीं कर सकते। मुसलमानों की प्रजनन दर में सबसे तेज गिरावट आई है।

असदुद्दीन ओवैसी ने मुसलमानों को लेकर केंद्र सरकार पर फिर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि देश के जिन राज्यों में भाजपा की सरकार है, वहां मुसलमान खुली जेल में जिंदगी काट रहा है। ओवैसी ने कहा, ‘देख लीजिए कि देश में क्या हो रहा है। उत्तर प्रदेश में क्या हो रहा है। जहां-जहां भाजपा की सरकार है वहां मुसलमान खुली जेल में जिंदगी काट रहा है। मदरसों को गिराया जा रहा है।

ओवैसी ने कहा, गुजरात में क्या हुआ बताइए। कहा गया कि मुसलमानों ने डांडिया में पत्थर फेंके। पुलिस ने मुस्लिम नौजवानों की पकड़ा और उन्हें बीच रास्ते पर लेकर आए। इन लोगों को एक खंभे से बांध दिया गया। वहां पर 300-400 लोग खड़े थे। पुलिसकर्मी जैसे ही मुसलमान की पीठ पर लाठी मारता है, वहां बैठे लोग नारे लगाने लगते हैं। एआईएमआईएम चीफ ने कहा कि मुसलमान को सड़क पर लाकर मारा जाना जुल्म नहीं तो क्या है? क्या यही भारत का लोकतंत्र है? क्या यह भारत का संविधान है? आखिर मौलिक अधिकार, कानून-व्यवस्था और धर्मनिरपेक्षता कहां है? उन्होंने कहा कि सड़क के कुत्ते की इज्जत है लेकिन मुसलमान की नहीं।

रेलवे में नौकरी की तैयारी, युवाओं के लिए सुनहरा मौका

रेलवे में नौकरी की तैयारी, युवाओं के लिए सुनहरा मौका

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। रेलवे में नौकरी की तैयारी कर रहे युवाओं के लिए सुनहरा मौका है। 10वीं पास और आईटीआई कर चुके उम्मीदवारों के लिए रेलवे ने बंपर भर्ती निकाली है। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC), नॉर्थ जोन ने अप्रेंटिस भर्ती 2022 का नोटिफिकेशन जारी किया है। जहां कंप्यूटर ऑपरेटर और प्रोग्रामिंग असिस्टेंट अपरेंटिस पद पर आवेदन मांगे गए हैं। इच्छुक और योग्य उम्मीदवार IRCTC की आधिकारिक वेबसाइट irctc.com पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

आईआरसीटीसी अप्रेंटिस भर्ती 2022...
आईआरसीटीसी अप्रेंटिस भर्ती 2022 अभियान के माध्यम से कंप्यूटर ऑपरेटर और प्रोग्रामिंग असिस्टेंट के कुल 80 खाली पद भरे जाएंगे। योग्य उम्मीदवारों की भर्ती अप्रेंटिसशिप एक्ट-1961 के तहत  एक साल के लिए अप्रेंटिस ट्रेनी (ITI होल्डर्स) के रूप में की जाएगी। पात्र उम्मीदवारों को दिल्ली में पोस्टिंग मिलेगी। ऑनलाइन आवेदन 07 अक्टूबर से शुरू हो चुके हैं। योग्य उम्मीदवार 25 अक्टूबर या उससे पहले ऑनलाइन मोड में अपना एप्लीकेशन फॉर्म जमा कर सकते हैं।

औषधीय गुणों से भरपूर शिलाजीत, जानिए फायदे

औषधीय गुणों से भरपूर शिलाजीत, जानिए फायदे

सरस्वती उपाध्याय 

माना जाता है कि शिलाजीत औषधीय गुणों से भरपूर होता है। यह हिमालयी क्षेत्र में पाया जाने वाला एक खास खनिज पदार्थ है और कई शारीरिक समस्याओं से बचाव व उनके असर को कम करने में मदद कर सकता है। माना जाता है कि शिलाजीत के सेवन से मर्दानगी में सुधार हो सकता है। शिलाजीत के सेवन से पुरुषों को कई लाभ हो सकते हैं। यह पुरुषों के हार्मोस को बढ़ावा देता है। इसके अलावा आपको ध्यान रखना होगा कि किसी भी बीमारी का इलाज डॉक्टरी सलाह पर ही संभव है। शिलाजीत सिर्फ स्वस्थ रख सकता है या फिर समस्या में थोड़ी राहत दे सकता है।

शिलाजीत के फायदे...

पुरुषों की समस्याओं को करें दूर...

शिलाजीत एक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है, जिसका इस्तेमाल पुरुषों की कई तरह की समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। यह पुरुषों में इनफर्टिलिटी की परेशानी को दूर कर सकता है। शिलाजीत के सेवन से पुरुषों के स्पर्म काउंट को बढ़ाया जा सकता है। पुरुषों में इनफर्टिलिटी की परेशानी को दूर करने के लिए शिलाजीत का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

पुरुष हार्मोन को बढ़ाने में कारगर...

शिलाजीत के सेवन से पुरुष हार्मोन यानी टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाया जा सकता है। नियमित रूप से शिलाजीत के सेवन से पुरुषों की मांसपेशियों को बेहतर तरीके से विकसित की जा सकती है। शारीरिक क्षमता को बेहतर करने के लिए पुरुषों को शिलाजीत का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

डायबिटीज में दिलाए राहत...

शिलाजीत का प्रयोग डायबिटीज से बचने के लिए भी किया जा सकता है। शिलाजीत में एंटी-डायबिटिक (ब्लड शुगर को कम करने वाला) गुण पाया जाता है। यह गुण हाई ब्लड शुगर के स्तर को कुछ हद तक नियंत्रित करने का काम कर सकता है। इस आधार पर यह कहा जा सकता है कि डायबिटीज की समस्या को नियंत्रित करने के लिए बेनिफिट ऑफ शिलाजीत कारगर हो सकते हैं। आयुर्वेद के अनुसार, दूध और शिलाजीत का सेवन करना चाहिए। इससे काफी लाभ होता है। इससे इनफर्टिलिटी की परेशानी दूर हो सकती है।

तस्करी: 3 महिला व 2 पुरूष समेत 5 यात्री गिरफ्तार 

तस्करी: 3 महिला व 2 पुरूष समेत 5 यात्री गिरफ्तार 

विमलेश यादव 

हैदराबाद। हैदराबाद की कस्टम डिपार्ट ने एयरपोर्ट से सोने की तस्करी करने वाली तीन महिला व दो पुरूष समेत पांच यात्रियों को गिरफ्तार किया है। ये तस्कर दुबई से हैदराबाद आने वाली फ्लाइट से पकड़ गए। पकड़ी गई महिलाएं सोना पेंटी और ब्रा में छिपाकर लाईं थीं। दुबई से हैदराबाद आने वाली फ्लाइट से एक महिला को देख कस्टम अधिकारी को शक हुआ। अधिकारी ने महिला को रोका। महिला की तलाशी ली गई तो उसके पास से सोना बरामद हुआ। उसने हेयर बैंड में सोना छिपा रखा था। महिला ने हेयर बैंड में सोना पेस्ट किया था। उसके पास से कस्टम विभाग ने 234 ग्राम सोना जब्त किया है।

इसके बाद कस्टम डिपार्ट के अधिकारियों को दो और महिलाएं संदिग्ध लगीं। उन महिलाओं की भी तलाशी ली गई तो उनके भी पास से सोना बरामद हुआ। ये महिलाएं सोना पेंटी और ब्रा के अंदर सोना छिपाया हुआ था। तीनों महिलाएं दुबई से तस्करी कर भारत सोना ला रही थीं। इसके आलावा विभाग की टीम ने दो और यात्रियों को स्मगलिंग के आरोप में गिरफ्तार किया। ये दोनों पुरूष यात्री कुवैत से फ्लाइट पकड़कर हैदराबाद पहुंचे थे। तलाशी लेने पर इनके पास से दो सोने की छड़ें और बटन बरामद हुए हैं। सोने का कुल वजन 855 ग्राम बताया जा रहा। पकड़े गए पांचों यात्रियों ने सोने से संबंधित एक भी वैलिड कागजात नहीं दिखा सके।

सीएम नीतीश पर उम्र का असर दिखने लगा: किशोर 

सीएम नीतीश पर उम्र का असर दिखने लगा: किशोर 

अविनाश श्रीवास्तव 

पटना। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने रविवार को कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर उम्र का असर दिखने लगा है और साथ ही वह उन लोगों से घिरे होने के कारण ‘राजनीतिक रूप से अलग-थलग’ महसूस कर रहे हैं, जिन पर उन्हें भरोसा नहीं है। नीतीश कुमार ने एक दिन पहले किशोर के बारे में कहा था कि वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए काम कर रहे हैं और एक बार उन्होंने उन्हें जद (यू) का कांग्रेस में विलय करने की सलाह दी थी। प्रशांत किशोर ने कहा कि नीतीश कुमार पर धीरे-धीरे उम्र का असर दिखने लगा है। वह घबराए हुए दिखते हैं।

प्रशांत पेशेवर रूप से और पार्टी में शामिल होकर भी कुमार के साथ काम कर चुके हैं। फिलहाल वह बिहार की 3,500 किलोमीटर लंबी ‘पदयात्रा’ पर हैं। उन्होंने एक वीडियो में कहा कि कुमार जब बोलना शुरू करते हैं, तो कहना कुछ चाहते हैं और बोल कुछ देते हैं। अगर उनको लगता है कि मैं भाजपा के लिए काम कर रहा हूं तो मैं उन्हें ऐसा सुझाव क्यों दूंगा, जिससे कांग्रेस मजबूत हो। किशोर ने कहा कि वह ऐसी बातें करते रहते हैं, जिनका कोई मतलब नहीं होता।

उन्होंने कहा कि अंग्रेजी का शब्द ‘डिलूशनल’ नीतीश कुमार पर बिलकुल सही बैठता है। वह राजनीतिक रूप से अलग-थलग महसूस कर रहे हैं क्योंकि वह उन लोगों से घिरे हुए हैं, जिन पर उन्हें भरोसा नहीं है। इससे वह भयभीत हो गए हैं और घबराहट में ऐसी बातें कहते रहते हैं, जिनका कोई मतलब नहीं होता।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-365, (वर्ष-05)

2. सोमवार, अक्टूबर 10, 2022

3. शक-1944, आश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि-प्रतिपदा, विक्रमी सवंत-2079।

4. सूर्योदय प्रातः 06:15, सूर्यास्त: 06:15। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 19 डी.सै., अधिकतम-32+ डी.सै., उत्तर भारत में बरसात की संभावना है।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु,(विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...