मंगलवार, 4 अगस्त 2020

पानी को उबालकर उपयोग करें, सुरक्षित

नई दिल्ली/ मास्को। दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इस वायरस से निपटने के लिए कई रिसर्च पर काम चल रहा है। साथ ही इसके बचने के लिए सभी को थोड़े-थोड़े अंतराल में साबुन से हाथ धोने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और मास्क पहनने लिए भी कहा जा रहा है। इन सबके बीच, रूस के स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी वेक्टर में की गई एक स्टडी में नया खुलासा हुआ है। वहां के वैज्ञानिकों ने स्टडी में दावा किया है कि पानी में कोरोना वायरस पूरी तरह से खत्म हो सकता है।


उबलते पानी से खत्म हो सकता है कोरोना वायरस 









स्टडी के अनुसार 72 घंटों में पानी में वायरस को खत्म किया जा सकता है। कमरे के तापमान में इस 90 फीसदी वायरस के कण खत्म हो जाते हैं। जबकि 72 घंटो के समय में यह 99.9 फीसदी तक खत्म किया जा सकता है। इसके साथ ही वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उबलते पानी से वायरस को तुरंत ही पूरी तरह से समाप्त किया जा सकता है। समुद्र और ताजे पानी को लेकर इस स्टडी में दावा किया गया कि इनमें यह वायरस बढ़ता नहीं है और कुछ परिस्थितियों में यह इस पानी में रह सकता है।         








दक्षिण-पूर्व-एशिया में भी फैला संक्रमण

जकार्ता। इंडोनेशिया में मंगलवार को 1,922 नए कोरोना  वायरस संक्रमण के मामले दर्ज किए गए। इसके साथ ही दक्षिण पूर्व एशियाई देश में कुल मामलों की संख्या 115,056 तक पहुंच गई। देश के COVID-19 टास्क फोर्स के आधिकारिक आंकड़ों बताया गया कि इस दौरान 86 मौतें भी हुई, जो कि कुल मिलाकर 5,388 तक पहुंच गई है।


दुनियाभर में कोरोना वायरस मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, वैश्विक कॉरोना वायरस मामलों की कुल संख्या 18.1 मिलियन ( एक करोड़ 81 लाख) से ऊपर है, जबकि दुनियाभर में 691,000 से अधिक लोगों की मौतें हो गई हैं। मंगलवार की सुबह, कुल मामलों की संख्या मंगलवार तक 18,193,291 हो गई थी और अब तक 691,642 लोगों की मौत हो चुकी है। विश्वविद्यालय के सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग (CSSE) ने अपने नवीनतम अपडेट में खुलासा किया है कि मंगलवार सुबह तक, कुल मामलों की संख्या 18,193,291 हो गई है और वायरस के कारण मरने वालों की संख्या 691,642 हो गई है। CSSE के अनुसार, दुनिया में सबसे मौतें अमेरिका में हुई हैं। अमेरिका में कोरोना के कारण अब तक 4,712,724 लोगों की मौत हो चुकी है। 155,388 लोगों की मृत्यु हो गई। इस महामारी से दूसरे स्थान पर सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला देश ब्राजील है। ब्राजील में अब तक कोरोना वायरस के 2,733,677 मामलों के साथ ही 94,104 लोगों की मौत हो गई है।


इसके बाद कोरोना वायरस से हाल बेहाल भारत का है। यहां तक कि अमेरिका और ब्राजिल से भी ज्यादा केस एक दिन में भारत में आ चुके हैं। भारत में कोरोना वायरस (COVID-19)के मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 52,050 मामले सामने आए हैं और 803 लोगों की मौत हो गई है। इस दौरान सर्वाधिक छह लाख 61 हजार 715 सैंपल टेस्ट हुए हैं। लगातार छठे दिन कोरोना के 50 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं। देश में अब तक 18 लाख 55 हजार 746 मामले सामने आ गए हैं। इनमें पांच लाख 86 हजार 298 एक्टिव केस हैं। वहीं 12 लाख 30 हजार 510 मरीज ठीक हो गए हैं। वहीं 38 हजार 938 लोगों की मौत हो गई है। देश में अब तक कुल दो करोड़ आठ लाख 64 हजार 206 सैंपल टेस्ट हो गए हैं। रिकवरी रेट 66.31 फीसद हो गया है। मृत्यु दर 2.16 फीसद हो गया है।             


कश्मीर घाटी में 2 दिन का कर्फ्यू लगा

नई दिल्ली/श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा समाप्त करने की पहली वर्षगांठ कल मनाई जाएगी। इस मौके पर अलगाववादी और पाकिस्तान समर्थक आतंकी घाटी में हिंसा करने के मूड में हैं। जिसको देखते हुए घाटी में दो दिन का कर्फ्यू लगा दिया गया है।

दरअसल, कश्मीर में पाक परस्त आतंकी संगठन कल काला दिवस मनाने और हिंसक प्रदर्शन करने की योजना बना रहे हैं। इस बारे में खुफिया इनपुट्स मिलने के बाद श्रीनगर में चार और पांच अगस्त को कर्फ्यू लगा दिया गया है। इससे पहले सोमवार को कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण पूरी कश्मीर घाटी में पांच अगस्त तक के लिए फिर से पूरी तरह प्रतिबंध लगाया जा चुका है।

श्रीनगर के जिला मजिस्ट्रेट शाहिद चौधरी के अनुसार, प्रशासन के पास इस बात की खुफिया जानकारी है कि अलगाववादी और पाकिस्तान परस्त गुट इन प्रदर्शनों की आड़ में हिंसा भी फैला सकते हैं। इसलिए श्रीनगर में कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया है। पूरी घाटी में प्रतिबंध के दौरान आवश्यक सेवाओं और आपातकालीन चिकित्सा सेवा को छोड़कर अन्य किसी भी प्रकार के आवागमन पर पाबंदी रहेगी। अधिकारियों ने खुद घाटी का दौरा कर हालात का जायजा लिया।             

₹899 में कर सकते हैं हवाई यात्राऐं

नई दिल्ली। एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट अपने यात्रियों के लिए शानदार ऑफर लेकर आई है, कंपनी ने 1 + 1 ऑफर की घोषणा की है, इसके तहत देश भर में कई शहरों की यात्रा के लिए एकतरफा बेसिक किराया 899 रुपए होगा, हालांकि यह कुछ शहरों के लिए ही है, साथ ही कंपनी यात्रियों को टिकट खरीदने पर एक फ्लाइट वाउचर मुफ्त दे रही है, कंपनी ने बताया कि फ्लाइट वाउचर की कीमत बुक किए गए टिकट के बेस किराए के जितनी होगी, ग्राहक जब भी इस सेल ऑफर के तहत टिकट की बुकिंग करेगा उसे अधिकतम 2,000 रुपए प्रति बुकिंग का वाउचर मिलेगा, इस वाउचर का उपयोग भवि‌ष्य में टिकट बुकिंग के लिए किया जा सकता है, यह वाउचर 15 अक्टूबर 2020 तक वैध रहेगा।


कंपनी के मुताबिक, यात्री इस योजना के तहत 3-7 अगस्त तक बुकिंग कर सकते हैं, इसके तहत यात्री अगले साल 31 मार्च तक यात्रा कर सकेंगे, बता दें कि यह नॉन-रिफंडेबल है और इसे कैश के लिए एक्सचेंज नहीं किया जा सकता है, कंपनी ने ज्यादा से ज्यादा यात्रियों को लुभाने की कोशिश में इस ऑफर के तहत एक मुफ्त टिकट वाउचर अलग से देने की घोषणा की है, सेल के तहत हैदराबाद – बेलगाम, अहमदाबाद – अजमेर (किशनगढ़), रूट को शामिल किया गया है, यह सुविधा वापसी टिकट के लिए भी है।


स्पाइसजेट अपनी ऐड-ऑन सेवाओं पर आकर्षक ऑफर लेकर आई है, इसका इस सेल के दौरान लाभ उठाया जा सकता है, यात्री को केवल 149 रुपए में अपनी पसंदीदा सीटों को चुनने का मौका मिलेगा, इसके साथ ही अपनी चेक-इन प्रायोरिटी, पसंदीदा बोर्डिंग और बैग आउट जैसी सेवाएं सेवाओं को खरीदा जा सकता है, ग्राहक 499 रुपए के विशेष मूल्य पर SpiceMax में अपग्रेड कर सकते हैं।              


शराबियों ने नलकूपों को बनाया अपना अड्डा

सरधना क्षेत्र की ट्यूबवेल बनी शराबियों का अड्डा, पुलिस अनजान
मेरठ। सरधना क्षेत्र में आजकल शराबियों का आतंक चरम पर है। शराबियों ने अब उत्पात मचाने के लिए किसानों  के नलकूपों (ट्यूबवेल) को अपना निशाना बनाना शुरू कर दिया है। शराबी ट्यूबवेल पर बैठकर घंटो घंटो तक शराब के नशे में उत्पात मचाते हैं। जिसके चलते क्षेत्र के किसानों में रोष व्याप्त है। बता दें कि सरधना कोतवाली क्षेत्र के अलावा सरधना तहसील क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले थाना सरूरपुर और थाना रोहटा क्षेत्र में शराबियों ने अधिकांश किसानों  के नलकूपों पर अपना अड्डा बना कर रखा है। शराबी दिन ढलने के साथ ही ट्यूबवैलों को मयखानों में तब्दील कर देते हैं।नशे में शराबी यहां बैठकर घंटो- घंटो तक उत्पात मचाते हैं। बाद में शराब के नशे में शराबी कांच की बोतलों को फोड़ कर चले जाते हैं। जो किसानों के लिए मुसीबतों का सबब बने हुए हैं। इसके अलावा जो ट्यूबवेल सड़क के किनारों पर हैं, वहां  सड़क पर आवागमन करने वाले लोगों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है। शराबी शराब के नशे में उत्पात मचाने के साथ-साथ सड़क पर आवागमन करने वाली महिलाओं के साथ भी हरकतें करते हैं। लेकिन इन सभी बातों से पुलिस अनजान है। सरूरपुर थाना क्षेत्र के खिवाई, कलीना, मैना पुट्टी, रोहटा थाना क्षेत्र के मीरपुर, लाहौर गढ़, नारंगपुर, कैथवाडी  एवं सरधना कोतवाली क्षेत्र के दर्जन भर गांवों की जंगल में स्थित ट्यूबवेल पर में शराबियों का खासा आतंक व्याप्त है। लेकिन अब देखना यह है कि आखिरकार शराबी कब तक पुलिस की नजरों से आंख मिचोली खेलते रहेंगे।


ऐसे में बड़ा सवाल यह बनता है कि पुलिस की गैरमौजूदगी में शराबी आखिर कब तक किसानों और राहगीरों को परेशान करते रहेंगे। वही जब इस संबंध में सीओ सरधना से वार्ता करने की कोशिश की तो उनसे बात नहीं हो पाई है।             


पौधों को रक्षा सूत्र बांधकर किया सुरक्षित

रतन सिंह चौहान
पलवल। विश्व मित्रता दिवस व रक्षाबंधन के अवसर पर अध्यापक संघ के प्रधान सुभाष पालीवाल के नेतृत्व मे पौधो को राखी बांधकर पर्यावरण संरक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पालीवाल ने बताया कि हमे पौधे लगाने के साथ साथ इनकी बच्चो की तरह देखभाल करनी चाहिए हमे पेड पौधो से अनेको लाभ है। पालीवाल ने बताया कि वृक्ष हमारे सच्चे मित्र है। इनसे हमे छाया, फल दवाई, लकड़ी, औषधी आदि अनेको लाभ प्राप्त होते है। हम सभी को इनकी सुरक्षा का संकल्प लेना चाहिए और दूसरे लोगो को जागरुक करना चाहिए ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने के साथ इनकी समय समय पर देखभाल करनी चाहिए पालीवाल ने बताया कि प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन मे एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए इस अवसर पर उत्तम पालीवाल, तृप्ति पालीवाल, स्पर्श पालीवाल, आध्या पालीवाल, पंकज पालीवाल कृष्ण पालीवाल आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।           


सैनिटाइजर ने एचसी का काम बाधित किया

कोर्ट का काम काज बाधित


प्रयागराज। सैनीटाइजेशन के चलते आज कोर्ट में किसी भी केस की सुनवाई नहीं हुई। गायत्री प्रजापति जमानत मामले की भी सुनवाई टली,अब 7 अगस्त को होगी सुनवाई। गायत्री प्रजापति ने इस दफ़े अपने पक्ष में बहुत भारी भरकम वकील लगाया है।         


4 अगस्त को वरिष्ठ पुलिस महा निरीक्षक परी क्षेत्र प्रयागराज व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज महोदय द्वारा श्री राम जन्म भूमि पूजन के मद्देनजर शहर एवं देहात क्षेत्र में बैरियर को चेक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।


बृजेश केसरवानी


15 अगस्त तक ऑनलाइन आवेदन करें

निःशुल्क ओ-लेवल/सीसीसी कम्प्यूटर प्रशिक्षण प्राप्त करने हेतु अन्य पिछड़े वर्ग के बेरोजगार युवक/युवतियां 15 अगस्त तक करें ऑन-लाइन आवेदन


प्रयागराज। जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी श्री इन्द्रसेन सरोज ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताया है कि पिछड़े वर्ग के बेरोजगार युवक/युवतियों हेतु निःशुल्क ओ-लेवल एवं सीसीसी कम्प्यूटर प्रशिक्षण योजनानान्तर्गत निर्गत नियमावली में उल्लिखित प्राविधानों के अनुसार वित्तीय वर्ष 2020-21 में अन्य पिछड़े वर्ग के बेरोजगार युवक/युवतियों को निःशुल्क ओ-लेवल/सीसीसी कम्प्यूटर प्रशिक्षण प्रदान करने हेतु आॅन-लाइन आवेदन आमंत्रित किया जाता है, जिसके लिए निर्धारित शर्ताें/प्रतिबन्धों के अनुसार शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में निवास करने वाले आवेदक की आय सीमा रू0 1,00,000/- (धनराशि रू0 एक लाख) से अधिक नहीं होनी चाहिए। उसके पास आय एवं जाति प्रमाण पत्र तहसील स्तर से निर्गत होना चाहिए। कम्प्यूटर प्रशिक्षण के लिए (10+2) इण्टरमीडिएट न्यूनतम शैक्षिक अर्हता आवश्यक है। प्रशिक्षणार्थी/आवेदक की उम्र 35 वर्ष से अधिक न हों।
ऑन-लाइन आवेदन 15 अगस्त, 2020 तक किया जा सकता है। अन्य किसी माध्यम से प्राप्त आवेदन स्वीकार नहीं किये जायेंगे। आॅनलाइन आवेदन के उपरान्त आवेदन की प्रति की प्रिण्ट आउट प्राप्त कर समस्त अभिलखों/विवरणों (आय/जाति/निवास/आधार कार्ड व अन्य शैक्षिक अभिलेख) को संलग्न करते हुये उसकी हार्ड काॅपी कार्यालय, जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी, कक्ष सं0 75 विकास भवन, प्रयागराज में दिनांक 15 अगस्त 2020 को सायं 05ः00 बजे तक जमा किया जायेगा। अधिक जानकारी के लिए कार्यालय जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी, प्रयागराज में सम्पर्क करें।
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी प्रयागराज              


मंदिर में हनुमान की हुईं पूजा-अर्चना

भानु प्रताप उपाध्याय 


शामली। भगवान श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के समर्थन में हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली के पदाधिकारियों ने हवन व यज्ञ और हनुमान चालीसा का पाठ किया हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली के तत्वाधान में गांव लिलोन में स्थित हनुमान मंदिर में जिला संयोजक चौधरी रविंदर सिंह कालखंडे के नेतृत्व में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के समर्थन में हनुमान जी की पूजा अर्चना की गई। इसके बाद वैदिक मंत्रोच्चारण से यज्ञ हवन संपन्न कराया उसके उपरांत गुलदाना का प्रसाद वितरित किया गया। वही जिला प्रभारी बिट्टू कुमार, जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष अरविंद कौशिक, जिला उपाध्यक्ष सुधीर राणा, प्रदीप निरवाल, जिला मंत्री अनुराग गोयल, निशांत सरोहा, अनिल कौशिक, पंकज गुप्ता उपेंद्र, द्विवेदी मनोज रोहिल्ला, राजेश गुप्ता, अमरीश शर्मा, अनुज गोयल, महेश गोयल, मांगेराम नामदेव, भानु प्रताप उपाध्याय आदि पदाधिकारियों ने अपने अपने घरों में विधिपूर्वक हनुमान चालीसा का पाठ किया सभी वक्ताओं का कहना है की अयोध्या नगरी भगवान श्री राम की जन्मभूमि है।इसलिए अयोध्या मैं राम मंदिर का निर्माण विधिपूर्वक होना चाहिए और भगवान श्री राम का भव्य मंदिर  बनना चाहिए हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली अयोध्या नगरी में मंदिर निर्माण भूमि पूजन को लेकर माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी व माननीय श्री आदित्यनाथ योगी को नमन करते हुए उनके कार्यों की सराहना करती हैं।         


ग्राहक का मोबाइल उड़ाया, कैमरे में कैद

अतुल त्यागी


सर्राफा बाजार में ग्राहक का मोबाइल उड़ाया, सीसीटीवी कैमरें में कैद


हापुड़। बच्चा चोर गैंग गिरोह के सदस्य ने आज सर्राफा बाजार स्थित एक आयुर्वेदिक सामान की दुकान से सामान खरीद रहे एक ग्राहक का बच्चा चोर गैंग के सदस्य ने मोबाइल उड़ा लिया, जो सीसीटीवी कैमरें में कैद हो गया। हापुड़ के सर्राफा बाजार स्थित रघुवीर शरण तेल वालों की दुकान पर आज दोपहर फूलगढ़ी निवासी दीपक कुमार सामान खरीद रहें थे। जैसे ही उन्होंने जेब में रखे पर्स से सामान का भुगतान किया, तभी सामान खरीदनें के बहानें बच्चा चोर गैंग का सदस्य 16 वर्षीय बच्चें ने पीछे से मोबाइल चोरी कर फरार हो गया। चोरी करते समय वह पास की दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरें में कैद हो गया। दुकान पर कार्यरत राकेश कुमार ने बताया कि बच्चा सीसीटीवी कैमरें में कैद हो गया है।जिसकी तलाश की जा रही है।
शहर कोतवाल सुबोध सक्सेना ने बताया कि बच्चा चोर गैंग पकड़नें को लेकर अभियान चलाया जायेगा। सभी चौकी प्रभारियों को गैंग पर निंगाह रखने व पकड़नें के निर्देश दिए तथा दुकानदारों व ग्राहकों से भी सावधानी बरतनें की अपील की।           


प्रियांशु ने जिलें का नाम किया रोशन

अतुल त्यागी


हाईस्कूल में प्रियांशु ने 82.3 प्रतिशत पाकर जिले का नाम रोशन किया


हापुड। मेरठ रोड स्थित दीवान पब्लिक स्कूल हापुड़ के दसवी के छात्र प्रियांशु त्यागी ने सेंट्रेल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन बोर्ड में 82,33 प्रतिशत अंक पाकर अपने परिवार के साथ साथ हापुड जनपद का नाम रोशन किया हैं। प्रियांशु के पिता जी मुकेश कुमार त्यागी जो जिलाउपाध्यक्ष है राष्ट्रीय संस्था हापुड़ के  ने बताया की प्रियांशु बचपन से ही पढ़ने में होनहार है और बड़ा होकर उसे प्रशासनिक परीक्षा पास करनी है।
प्रियांशु की माता जी प्रीति त्यागी गृहणी है और जैसे ही उन्हें पता चला की प्रियांशु ने 83 प्रतिशत अंक अर्जित किया है वह फूला नही समा रही थी परिवार के सदस्यों ने प्रियांशु को मिठाई खिलाकर अपनी ख़ुशी इज़हार किया।
प्रियांशु हापुड़ के तगा सराय के मूल निवासी हैं और दीवान पब्लिक स्कूल के छात्र हैं।
इस खुशी के अवसर पर स्कूल के प्रधानाचार्य ने फ़ोन कर प्रियांशु को उनकी सफलता के लिए बधाई दिया और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना किया उनके परिवार के अन्य सदस्यों और रिश्तदारों ने भी उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दिया।             


हापुड़ः एआरटीओ पॉजिटिव, कार्यालय बंद

अतुल त्यागी
हापुड़ ARTO हुए कोरोना पोजेटिव, कार्यालय बंद


हापुड़। जिलें में अब कोरोना ने पहली बार सरकारी विभाग में एंट्री की। जिसके तहत कोरोना की चपेट में आकर हापुड़ एआरटीओ कोरोना पोजेटिव हो गए। जिससेंं विभाग में हड़कंप मच गया । कोरोना पोजेटिव पाए जानें के कार्यालय को सैनाटाईज करवाने के बाद बंद कर दिया गया है।
जिलें के हापुड़ में मेरठ रोड़ स्थित संभागीय परिवहन विभाग में कोरोना ने अपनी आमद करवाई और वहां तैनात एक एआरटीओ कोरोना पोजेटिव पाए गए। जिन्हें गाजियाबाद के एक प्राईवेट अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।
एआरटीओ कोरोना पोजेटिव पाए जाने के बाद विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। विभाग में कार्यालय को दो बार सैनाटाईज करने के बाद बंद करवा दिया गया है और उनके सम्पर्क में आए लोगों की सैपलिंग की जायेगी।             


अवैध निर्माण करने वालों को दी चेतावनी

अतुल त्यागी


प्राधिकरण वीसी ने दिखाएं सख्त तेवर


हापुड़। अवैध निर्माणकर्ताओं को दी चेतावनी हापुड़ पिलखुवा विकास प्राधिकरण की नवनियुक्त उपाध्यक्ष ने चार्ज लेते ही साईटों का निरीक्षण कर अवैध निर्माण करनें वालों को चेतावनी दी। नवनियुक्त वीसी अर्चना वर्मा ने आज प्रवर्तन कार्यों की समीक्षा कर अधिकारियों के साथ जिलें के निरीक्षण पर निकली। वीसी ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हिण्डालपुर में बनाए जा रहे आवासों व टैक्सटाइल सिटी का निरीक्षण कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए।


वीसी ने सख्त तेवर अपनाते हुए जिलें में अवैध निर्माण करनें वालों को चेतावनी देते हुए कहा कि शमन मानचित्र योजना 2020 के तहत अनाधिकृत निर्माण का नक्शा पास कराएं ,अन्यथा उनके विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।              


'सब में है राम, सबके है राम': प्रियंका


प्रियंका बोलीं- राम सब में हैं, राम सब के हैं, कमलनाथ ने भी भगवा पहनकर ट्विटर प्रोफाइल बदली, प्रियंका ने 21 लाइनों में 23 बार राम का नाम लिया



अयोध्या। राम मंदिर के भूमि पूजन में 24 घंटे से भी कम वक्त बचा है। हर कोई राम धुन में रम गया है। उस कांग्रेस को भी राम याद आ रहे हैं, जो कम से कम खुले मंच पर इस राम नाम परहेज करती थी। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मंगलवार को ट्वीट किया है। 21 लाइनों में 270 शब्द लिखे हैं प्रियंका ने और इसमें 23 बार राम नाम लिया है। चौंकाने वाली बात ये कि अंग्रेजी में ही साइन करने वाली प्रियंका के इस ट्वीट में इस बार दस्तखत शुद्ध हिंदी में हैं। प्रियंका ने ट्वीट में लिखा राम सब में हैं, राम सबके हैं। राम कबीर के हैं, तुलसी दास के हैं और रैदास के हैं। गांधी के रघुपति राघव राजा राम सबको सम्मति देने वाले हैं। प्रियंका के इस ट्वीट में सबकुछ राम में ही रंगा है। अकेली प्रियंका नहीं हैं। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमलनाथ ने ट्विटर पर प्रोफाइल फोटो बदल दी है। त्रिपुंड तिलक लगा रखा है और भगवा पटका ओढ़े हैं। एक और फोटो भगवामय है। कमलनाथ ने सुंदर कांड का पाठ किया और कहा- हम राम मंदिर निर्माण का स्वागत करते है। राजीवजी ने 1985 में इसकी शुरुआत की। 1989 में शिलान्यास किया। राजीव जी के कारण ही राम मंदिर का सपना आज साकार हो रहा है।उन्होंने कहा- आज राजीव जी होते तो यह सब देखते। भारत की संस्कृति सभी को जोड़ने वाली है। यह हमारी पहचान है। हम जब भी कुछ करते है, भाजपा के पेट में दर्द क्यों शुरू हो जाता है। क्या धर्म पर उनका पेटेंट है, उनका ठेका है, उन्होंने धर्म की एजेंसी ली हुई है? कमलनाथ ने ऐलान किया है कि वो 11 चांदी की ईंटें अयोध्या भेजेंगे। उन्होंने कहा कि कल वो ऐतिहासिक दिन है, जिसका पूरा देश इंतजार कर रहा था। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मैं राम मंदिर निर्माण के कार्यक्रम के 24 घंटे पहले कोई राजनीतिक बयान देना नहीं चाहता। लेकिन यह कहना चाहता हूं कि राजनीति का धर्म होना चाहिए, धर्म की राजनीति नहीं। यही राम की मर्यादा है।           



अधिकारियों ने बॉर्डर का जायजा लिया

डीएम और एसपी पहुंचे सोनौली बार्डर , लिया जायजा


 सोनौली। अयोध्या में भूमि पूजन को लेकर प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है। इसी क्रम में आज मंगलवार को महाराजगंज जिले के डीएम और एसपी सोनौली बॉर्डर पहुंचकर सरहद का जायजा लिया और स्थानीय सुरक्षा एजेंसियों के साथ बैठक कर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिए। मंगलवार की दोपहर को जिला अधिकारी महाराजगंज डॉ उज्जवल कुमार तथा एसपी महाराजगंज रोहित सिंह सजवान सोनौली बार्डर पर पहुंचकर बॉर्डर पर चौकसी का जायजा लिया। इसके उपरांत उन्होंने भारत द्वार पर स्थित एसएसबी कैंप में एसएसबी, पुलिस तथा स्थानीय सुरक्षा एजेंसियों तथा खुफिया तंत्रों के साथ बैठक कर सरहद पर कड़ी चौकसी के निर्देश दिए।
बता दे कि बुधवार को अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री पहुंच रहे हैं। जिसके मद्देनजर प्रशासन पूरी तरह से सरहदी क्षेत्रों में सतर्क है। आज बार्डर की सतर्कता परखने के लिए डीएम और एसपी बॉर्डर पहुंचे। भारत नेपाल सीमा पर पूरी चौकसी बरती जा रही है। भारत-नेपाल सीमा पर अलर्ट जारी है। पुलिस एवं एसएसबी के जवान गस्त कर रहे हैं। नेपाल से आने जाने वाले लोगों पर पैनी नजर रखी जा रही है। जिले के सोनौली सीमा पर नेपाल से आने जाने वाले मालवाहक वाहनों सहित आवश्यक कार्यों के लिए आवाजाही करने वाले लोगों की गहन तलाशी ली जा रही है। ताकि कोई भी देश विरोधी तत्व अवैध रूप से घुसपैठ कर किसी भी देश विरोधी घटना को अंजाम ना दे सके।
बैठक मे मुख्य रूप से एसएसबी 22वी वाहिनी के कमांडेंट मनोज कुमार सिंह सहित तमाम स्थानीय जांच एजेंसी के लोग मौजूद रहे।               


राजीव के द्वारा हुआ शिलान्यास सियासी था

हरिओम उपाध्याय


एटा। अपने विवादित बयानों से चर्चा में रहने वाले उन्नाव सीट से सांसद साक्षी महाराज ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा पांच अगस्त को किए जा रहे मंदिर निर्माण के भूमिपूजन में कोई राजनीति नहीं है लेकिन असली सियासत तो उस समय हुई थी जब पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी ने राम मंदिर के लिए शिलान्यास कराया था।


साक्षी महाराज ने मंगलवार को यहां अपने आश्रम में कहा “मैं साक्षी हूं अयोध्या के पूरे आंदोलन का, बाबरी विधवन्स का, राम सिला पूजन का। जब से मैंने होश संभाला है इस आंदोलन से मैं जुड़ा हूँ और एक एक घटना का मैं साक्षी हूँ। मोदी जी के द्वारा किये जाने वाले राम मंदिर के शिलान्यास में कोई सियासत नही है, सियासत तो राजीव गांधी ने जो राम मंदिर के लिये शिलान्यास कराया था, सियासत उसमें थी।” उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार में स्वर्गीय राजेश पायलट आंतरिक सुरक्षा गृह राज्य मंत्री थे, उन दिनों मंदिर आंदोलन का केंद्र मेरा दिल्ली का आश्रम था, पायलट रात में मेरे पास आये और पूंछा क्या करना है। मैने कहा था कि यदि आपको हिंदुओं का वोट चाहिए तो शिलान्यास कराकर मंदिर निर्माण होने दीजिए। सिर्फ मुसलमानों का वोट चाहिए तो शिलान्यास मत करने दीजिए। शिलान्यास कराया गया, फिर रोक दिया गया। उन्होंने कहा कि ये शिलान्यास सियासी शिलान्यास था। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा मंदिर के शिलान्यास पर अनर्गल बयानबाजी किये जाने पर उन्होंने कहा कि उन्होंने राम भक्तों को जेल में ठूंसवा दिया था। साक्षी महाराज ने कहा कि भाजपा राष्ट्र की राजनीति करती है, राम के लिए राजनीति करती है लेकिन दिग्विजय सिंह एक परिवार की गुलामी करते हैं। एक परिवार के लिए राजनीति करते हैं। हम राम के लिए राजनीति करते हैं तो कोई बुरी बात नही, राम इस देश के आदर्श हैं।


साक्षी महाराज ने इस बात से इंकार किया कि उम्र और कोरोना को ढाल बनाकर राम मंदिर से जुड़े बड़े चर्चित लोगों को नजर अंदाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हजारों लोग राम मंदिर के लिए जान दे गए। सांसद ने इसका श्रेय उच्चतम न्यायालय, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह को इसका श्रेय दिया। उन्होंने मंदिर निर्माण में सहयोग के लिये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, मुस्लिम और हिन्दू भाइयों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि यह बताने की जरूरत नहीं कि मंदिर निर्माण के लिए किसका योगदान है। सबके योगदान के बारे में जनता को पता है। जिसका जो योगदान है उसे नकारा नही जा सकता।


साक्षी महाराज ने मोदी को अत्यधिक महत्व देने पर कहा कि जब समुद्र में पुल बन रहा था, वहाँ बड़े बड़े योद्धा थे नल, नील, अंगद थे पर प्रभु श्री राम ने हाथ गिलहरी ऊपर रखा था और गिलहरी की चर्चा ज्यादा होती है। प्रभु श्रीराम की कृपा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ये सौभाग्य प्राप्त हुआ है। वे 22.50 किलोग्राम की चांदी की ईंट से राम मंदिर निर्माण का शिलान्यास अपने हाथों से करेंगे। ये राम की कृपा है। प्रभु की कृपा के बिना पत्ता नही हिल सकता। प्रभु श्रीराम ने ये संयोग बनाया कि श्री मोदी शिलान्यास करें। मोदी जी बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि पांच अगस्त बड़ा दिन है। इसी दिन धारा 370 हटाई गई थी। इसी तारीख को ही सैकड़ों सालों से लंबित अयोध्या में राम मंदिर को शिलान्यास होने जा रहा है। सांसद ने देश वासियों से अपील की है कि मोदी जी के शिलान्यास कार्यक्रम के अवसर पर सभी पटाखे चलाएं, दीपक जलाएं, मिठाईया बांटे, खुशिया मनाए, गाने गाए, भजन गाये जो जैसे खुशी का इजहार कर सकता है करे।              


प्रधानमंत्री आवास योजना का क्रूर सच

बरसात से कच्चा घर भरभराकर गिरा बृद्ध महिला की मौत 2 गंभीर घायल


प्रधानमंत्री आवास योजना  सबको आवास की मुंह चिढ़ाती घटना


अझुवा कौशाम्बी। सैनी कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत खड़गपुर मजरे उचरावा निवासी घूरे लाल का कच्चा मकान बारिश से गिर गया। जिससे उसकी बूढ़ी मा की दबकर मौत हो गयी।


जानकारी के अनुसार घूरेलाल उम्र 55 वर्ष  रोज की भांति बूढ़ी बड़ी माँ शुक्लाइन उम्र 100 वर्षों के पार  और अपने पुत्र प्रताप 18 वर्ष के साथ कच्चे घर मे चारपाई डालकर आराम कर रहे थे। सुबह 8 से 9 के बीच हल्की बरसात हो रही थी । रातभर हल्की बरसात होती रही आवास कच्चा और जीर्ण शीर्ण था अचानक भर भराकर गिर गया। जिसके नीचे तीनों दब गए। हो हल्ला मचने पर गांव के लोग इक्क्ठा हुए आनन फानन मलबा हटाया गया। जिसमे बूढ़ी शुक्लाइन की मौत हो गयी तथा घूरेलाल और उसका पुत्र गंभीर रूप से घायल हो गए घर परिवार में कोहराम मच गया पूरा गांव इकट्ठा हो गया।लोगों के अनुसार भरे पूरे परिवार में जो बाहर बरामदे में आराम कर रहे थे उन्ही पर हादसा हुआ।शेष परिवार के अंदर ही रह गए थेजो बच गए। अन्यथा बहुत बड़ा हादसा ही सकता था। 2 तीन बहने राखी बांधने आयी थीं।


जानकारी पर एसडीएम राजेश श्रीवास्तव प्रशासन के साथ मौके पर लिखा पढ़ी की। दैवीय आपदा के तहत मदद का आश्वासन दिया गया। जबकि प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत सभी कच्चे मकानों को पक्का किया जा रहा है। लेकिन जनप्रतिनिधियों और प्रशासन के अधिकारियों के भ्रष्टाचार के कारण योजना को अमलीजामा नहीं पहनाया गया है। जिसके चलते इस प्रकार के हादसे बढ़ रहे हैं। योजना का क्रूर सच देख कर आपका भी हृदय विचलित हो जाएगा। सैनी कोतवाली पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव कब्जे मेंं लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया।।


सन्तलाल मौर्य


ग्रह कलेश से त्रस्त युवक ने की आत्महत्या

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कवि नगर थाना क्षेत्र के कर्पूरी पुरम गोविंदपुरम में एक 25 वर्षीय युवक ने कमरे में बंद होकर पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। गृह कलेश के चलते आत्महत्या की आशंका जताई जा रही है। गोविंदपुरम के कपूरी पुरम के वी-5 में रहने वाले 25 वर्षीय गौरव राघव पुत्र राजेंद्र कुमार द्वारा अपने कमरे को बंद कर पंखे से लटक कर आत्महत्या का मामला सामने आया है। सुबह जब परिजनों ने कमरे का दरवाजा खुलवाने का प्रयास किया तो दरवाजा नहीं खुला और इस मामले की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दरवाजा खोलकर शव को पंखे से नीचे उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। हालांकि मृतक ने कोई सुसाइड नोट नहीं छोड़ा है।


मृतक के पिता राजेंद्र कुमार जीडीए में बिजली विभाग में कार्यरत हैं और उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि उनका पुत्र गौरव ड्राइवर था और रात को आकर अपने घर में सो गया। सुबह कमरे का दरवाजा नहीं खुलने पर काफी प्रयास किया। तब खिड़की से झांककर देखा तो उसका शव पंखे से झूल रहा था। हालांकि आत्महत्या का कोई कारण स्पष्ट नजर नहीं आया है। परिजनों से इस मामले में जानकारी एकत्रित की जा रही है कि आत्महत्या का क्या कारण रहा होगा।            


भाइयों ने एक-दूसरे पर चाकू से वार किया

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। नशे की हालत में इंसान क्या कर बैठता है इसका अंदाजा भी लगाना कठिन है। नशा उतर जाने के बाद गैरतमंद इनसानों को अपनी गलती पर पछतावा होता है लेकिन कई मामलों में भूल इतनी भयंकर होती है कि पछतावे का मौका भी नहीं मिलता है। सोमवार देर रात साहिबाबाद थाना क्षेत्र में पड़ने वाली राजीव कॉलोनी में दो सगे भाई पार्टी कर रहे थे।  पार्टी में शराब भी परोसी गई थी और दोनों भाइयों का नशे की हालत में किसी बात पर झगड़ा शुरू हो गया।  झगड़ा इतना बढ़ कि दोनों भाइयों ने एक दूसरे के ऊपर सब्जी काटने वाले चाकुओं से हमला कर दिया।  दोनों को अस्पताल में ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।


पुलिस के मुताबिक, राजीव कॉलोनी में रहने वाले सगे भाई 32 वर्षीय मोटा और 28 वर्षीय मोहन लाल सोमवार रात करीब 10 बजे पड़ोस में स्थित अपने चाचा के घर पार्टी कर रहे थे। इस दौरान दोनों में कहासुनी हो गई। देखते-देखते विवाद बढ़ गया और हाथापाई शुरू हो हो गई। इस दौरान दोनों के हाथ में सब्जी काटने वाला चाकू आ गया। दोनों ने एक-दूसरे पर चाकू से वार कर दिया। दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने आनन-फानन उन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डाक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। पुलिस अधीक्षक नगर डॉ. मनीष मिश्र व थाना प्रभारी अनिल शाही पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंच कर जांच शुरू की। एसपी सिटी डॉ. मनीष मिश्र ने बताया कि पुलिस की जांच में आया कि दोनों ने शराब पी थी। नशे की हालत में दोनों में झगड़ा हुआ और घटना घट गई। वहीं भतीजे महेंद्र ने मामले में पुलिस को तहरीर दी है। उसने भी शराब के नशे में दोनों में झगड़ा होने की बात लिखी है। दोनों भाई मजदूरी करते थे। दो भाइयों ने आपसी विवाद में मारपीट की। दोनों की मौत हो गई। मामले की जांच की जा रही है।


वृक्षारोपण कर संरक्षण का संदेश दिया

एनडीआरएफ की टीम ने वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का दिया संदेश


बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। एनडीआरएफ की टीम को बाढ़ आपदा प्रबंधन के लिए प्रयागराज में तैनात किया गया है। जो संभावित बाढ से बचाव के लिए बाढ संभावित इलाकों का दौरा कर सुरक्षा इंतजामों का जायजा ले रही है। एनडीआरएफ किसी भी आपदा में बचाव व राहत कार्यों के लिए हमेशा आगे रहती है साथ ही पर्यावरण संरक्षण में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
इसी श्रृंखला में एनडीआरएफ टीम के प्रभारी निरीक्षक जगदीश राणा सहायक उप निरीक्षक जोगिंदर सिंह और उनकी पूरी टीम ने श्री मार्तंड प्रताप सिंह एडीएम प्रयागराज की अगुवाई में सीएवी इंटर कॉलेज के परिसर में वृक्षारोपण किया। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में उप प्रधानाचार्य मेजर के के प्रसाद,अध्यापकों में श्री नवास सिंह ,श्री दिनेश कुमार, श्री शरद राय, श्री संजय पांडे व अन्य शिक्षक गण एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारी मौजूद रहे। टीम ने वृक्षारोपण कर कोरोना महामारी से बचाव के तरीके और पर्यावरण संरक्षण के लिए जन जागरूकता का संदेश भी दिया।
टीम कमांडर ने कहा कि हम सभी को ना सिर्फ पेड़ों की रक्षा करनी चाहिए बल्कि वृक्षारोपण कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए। इस दिशा में जो सबसे आसान काम हम कर सकते हैं वह यह कि हम अपने जन्मदिन पर कम से कम एक पेड़ हर वर्ष लगाएं और उसकी देखभाल करें।          


भाजपा की नीतियां चीन परस्तः कांग्रेस

नई दिल्ली। कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी पर हमला करते हुए कहा है कि उसकी नीतियां चीन परस्त हैं और उसकी इन्हीं नीतियों के कारण चीन पर लगातार हमारी निर्भरता बढ़ रही है जो देश को एक गंभीर खतरे की तरफ धकेल रही है। कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल पर मंगलवार को कहा “भाजपा भारत में चीन को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश- एफडीआई के माध्यम से खुले निवेश की छूट देकर उस पर निर्भरता बढ़ाने का काम कर रही है। भारत में चीनी निवेश में लगातार होता इजाफा भाजपा की चीन पर निर्भरता की पोल खोल रहा है।” पार्टी ने कहा कि भाजपा की चीन परस्त नीतियों के कारण ही देश में तेजी से चीनी कंपनियों का निवेश बढ़ रहा है और हर साल इसमें इजाफा हो रहा है। उसका कहना है कि भारत में चीनी एफडीआई 2014 में 0.54 अरब डालर था जो 2019 में बढ़कर 4.14 अरब डालर पहुंच गया है। भारत में चीनी कंपनियों का बढ़ता निवेश देश के लिए घातक साबित हो सकता है और भाजपा सरकार की चीन पर बढ़ती निर्भरता देश को एक बड़े खतरे की तरफ धकेल रही है।


लद्दाख में चीनी सैनिकों के भारतीय सीमा पर घुसपैठ को भाजपा सरकार की चीन परस्त नीति का परिणाम बताते हुए कांग्रेस ने कहा कि चीन गलवान घाटी में हमारी जमीन पर कब्जा कर रहा है और भाजपा सरकार दिल्ली मेरठ सड़क परियोजना के लिए चीनी कंपनी को 1126 करोड़ रुपए का ठेका आवंटित कर रही है।             


भव्य राम मंदिर की आधारशिला रखी जाएगी

अयोध्या। अयोध्या राम लला के स्वागत के लिए तैयार है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी 5 अगस्त को राम नगरी में पहुंचकर भव्य राम मंदिर की आधारशिला रखेंगे। राम मंदिर भूमि पूजन के ठीक बाद वह देश को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी तकरीबन तीन घंटे राम की नगरी में गुजारेंगे, वह तय कार्यक्रम के मुताबिक ही राम मंदिर से जुड़े कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे। 


अयोध्या में पीएम मोदी का मिनट 2 मिनट कार्यक्रम


अयोध्या में तीन घंटे का प्रवास। 


5 अगस्त की सुबह दिल्ली से प्रस्थान। 


9:35 बजे दिल्ली से उड़ेगा विशेष विमान। 


10:35 बजे लखनऊ एयरपोर्ट पर लैंडिंग। 


10:40 बजे हेलिकॉप्टर से अयोध्या के लिए प्रस्थान। 


11:30 बजे अयोध्या साकेत कॉलेज के हेलीपैड पर लैंडिंग। 


11:40 बजे हनुमान गढ़ी पहुंच कर 10 मिनट दर्शन-पूजन। 


12 बजे राम जन्मभूमि परिसर पहुंचने का कार्यक्रम। 


10 मिनट में रामलला विराजमान का दर्शन- पूजन। 


12:15 बजे रामलला परिसर में पारिजात का पौधारोपण। 


12:30 बजे भूमिपूजन कार्यक्रम का शुभारंभ। 


12:40 बजे राम मंदिर की आधारशिला की स्थापना। 


2:05 बजे साकेत कॉलेज हेलीपैड के लिये प्रस्थान। 


2:20 बजे लखनऊ के लिए उड़ेगा हेलिकॉपटर


अलग-अलग जगहों पर होगा पीएम मोदी का स्वागत 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग लोगों द्वारा किया जाएगा।  जिसके तहत साकेत महाविद्यालय के हेलीपैड पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, जिलाधिकारी अनुजा झा के साथ ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय उनका स्वागत करेंगे। इसके बाद राम जन्मभूमि पर स्वागत की जिम्मेदारी अयोध्या के राजा विमलेंद्र मोहन, राम मंदिर भवन निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा और ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास करेंगें 


हनुमानगढी के करेंगे दर्शन 
जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हनुमानगढी के दर्शन के उपरांत 1230 बजे भूमि पूजन स्थल पधारेंगे। वह यहां पारिजात का एक पौधा भी रोपेंगे। मोदी के साथ मंच पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल,मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ,राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत और श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास होंगे।      
                 


5 अगस्त को विश्व मंगल दिवस मनाया जाएगा

विश्व मंगलमय दिवस के रूप में मनाया जाऐगा


बीके शर्मा


गाजियाबाद। श्री सनातन धर्म शिव हनुमान मंदिर निकट देहरादून पब्लिक स्कूल गोविंदपुरम मैन रोड  विश्व ब्राह्मण संघ व हनुमान मंगलमय परिवार के तत्वाधान में 5 अगस्त 2020 का दिन विश्व मंगलमय दिवस के रुप में मनाया जाएगा। अनेकों धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं से जुड़े समर्पण भाव से अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह करते हुए बी के शर्मा हनुमान आज श्री सनातन धर्म शिव हनुमान मंदिर समिति के अध्यक्ष डीपी राणा व वरिष्ठ उपाध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता बबलू राघव  के साथ प्रस्तावित भगवान श्री राम के मंदिर के चित्र व देश के  प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  चित्र के सानिध्य में हवन यज्ञ कर अपनी अंतरात्मा की  1008 आहुति भावांजलि देकर अपनी  खुशी का इजहार किया और कहा कि हम ऐसे खुशनसीब हैं कि हम अपने परिवार के साथ अपने कुल में अपनी जीविका के प्रत्यक्ष में भगवान श्रीराम का ऐतिहासिक मंदिर का निर्माण होता देख रहे हैं यह हमारा सौभाग्य है कि हम इसके साक्षी हैं और अपने आप मैं  पुलकित व प्रफुल्लित  की अनुभूति प्राप्त कर रहे हैं। बीके शर्मा हनुमान ने कहा कि श्री राम का जन्म "मात्र दशरथ व कौशल्या को सुख प्रदान करने के लिए नहीं अपितु समस्त मानव के कल्याण के लिए हुआ था श्री राम समस्त मानव को पररस्पर  और सद्भाव का संदेश देने वाले हैं 


भूमि पूजन पर पूरे विश्व में मनाई जाएगी दिवाली 
आज 4 ,5अगस्त यानी भूमि पूजन के दिन  दीपावली मनाई जाएगी इस दिन का इंतजार करोड़ों करोड़ों हिंदुस्तानी बीते 451 सालों से कर रहे हैं राम मंदिर निर्माण के लिए इंतजार हो रहा था अब शुभ घड़ी आई है 4,5 अगस्त को अयोध्या में दीप जलाए जाएंगे और रामलला का ऐतिहासिक भव्य स्वागत किया जाएगा और राम राज्य की स्थापना होगी यही देश  के 135 करोड़ हिंदुस्तानियों की मनोकामना पूर्ण होगी पूरे विश्व में अपनी एकता का पताका फहराने में हम कामयाब होंगे इस अवसर डा.डी.पी. नागर  बबलू राघव आशित त्यागी गोविंदपुरम मंडल अध्यक्ष अमित रंजन संजय कौशिक सीताराम अनुराग त्यागी कृष्णा त्यागी बीकेएस पाल महेंद्र चौधरी रश्मि पाल  विनीता पाल  डीपी नागर  अंकुर नागर  एमके मंडल  हिमांशु  पंकज शर्मा  रामस्वरूप शर्मा  राकेश कुमार जितेंद्र मिश्रा विचित्र पर मौजूद थे।                         


दिल्ली दंगे में फंडिंग का हुआ खुलासा

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून और जनसंख्या रजिस्टर के खिलाफ दिल्ली में फरवरी में हुए धरना-प्रदर्शन और दंगों के मामले में हुई फंडिंग का अब तक का सबसे बड़ा खुलासा हुआ है। दिल्ली पुलिस ने दावा किया है कि दिल्ली में हिंसा से पहले, आरोपियों के खातों में और एक करोड़ 62 लाख 46 हजार 53 रुपए आए थे। हिंसा के आरोपियों ने इसमें से करीब एक करोड़ 47 लाख 98 हज़ार 893 रुपए दिल्ली में चल रहे करीब 20 प्रदर्शन वाली जगहों पर और दिल्ली में हिंसा करवाने में खर्च किया था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने इन रुपयों से हिंसा के लिए हथियार खरीदे। साथ ही सीएए के खिलाफ धरना-प्रदर्शन के लिए जरूरत की अन्य सामग्री भी खरीदी थी. आरोपियों के बैंक अकॉउंट में भारत ही नहीं, बल्कि विदेशों से भी मोटा पैसा आया था। ओमान, कतर, यूएई और सऊदी जैसे देशों से दिल्ली में दंगा करवाने के लिए पैसे भेजे गए थे। दिल्ली हिंसा के जिन आरोपियों के बैंक खातों में यह पैसा आया उनके नाम- ताहिर हुसैन, मिरान हैदर, इशरत जहां, शिफा उर रहमान और खालिद सैफी है। सबसे ज्यादा पैसा ताहिर हुसैन के बैंक खाते में आया था।
हिंसा के आरोपी और पूर्व पार्षद इशरत जहां के खाते में और नगद के तौर पर 5,4100 रुपए आए, जिसमें 4,60,900 रुपए खर्च किए गए। इसमें से बड़ा हिस्सा दिल्ली हिंसा के लिए हथियार खरीदने और प्रदर्शन साइट पर खर्च किए गए। पुलिस के अनुसार, हिंसा के आरोपी शफी उर रहमान के खाते में और कैश के तौर पर 12,88,559 रुपए आए, जिसमें से 5,55,000 रुपए विदेशों से आए थे। इसमें कतर, ओमान, सऊदी से 9,34,600 रुपए आए जो ब्।।-छत्ब् के खिलाफ प्रदर्शनों की जगहों पर खर्च किए गए थे। पुलिस के मुताबिक, हिंसा के आरोपी मिरान हैदर के खाते में और कैश के तौर पर 5,46,494 रुपए आए, जिसमें से 2,67,000 रुपए निकाले गए। इसी आरोपी ने दिल्ली हिंसा का रजिस्टर बनाया था, जिसमे ये लिखा होता था कि कितना पैसा किसके पास से आ रहा है और किसे कितना दिया जा रहा है। दिल्ली पुलिस ने इसके पास के कैश भी बरामद किया गया था। उसके पास भी विदेशों से रुपए आए थे। पुलिस के मुताबिक हिंसा के आरोपी खालिद सैफी का खाते में और कैश के तौर पर 6,23,000 रुपए आए थे, जिसमें से 2,10,893 रुपए हिंसा और प्रदर्शन वाली जगहों पर खर्च किए गए।         


18,55,755 की मौत, संक्रमित 5,86,298

नई दिल्ली। देशभर में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण का पता लगाने के लिए 6,61,892 नमूनों की जांच की गयी है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) की ओर से मंगलवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक 03 अगस्त को कोरोना वायरस के संक्रमण का पता लगाने के लिए देशभर में 6,61,892 नमूनों की जांच की गयी और इसके साथ ही अब तक जांच किये गये नमूनों की कुल संख्या 2,08,64,750 हो गयी है। देश में कोरोना परीक्षण लैब की संख्या बढ़कर 1,356 हो गयी है। पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 52,050 नए मामले सामने आये हैं जिससे अब तक संक्रमण का शिकार हुए व्यक्तियों की संख्या बढ़कर 18,55,755 हो गयी है। देश भर में फिलहाल संक्रमण के 5,86,298 सक्रिय मामले हैं।             


वरिष्ठ नागरिकों की देखभाल का निर्देश

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 महामारी के दौरान अकेले रह रहे वरिष्ठ नागरिकों की समुचित देखभाल करने के उपाय सुनिश्चित करने को लेकर केंद्र सरकार को मंगलवार को निर्देश दिया। न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी की खंडपीठ ने केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्रालय को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि उन वरिष्ठ नागरिकों का वृद्धावस्था पेंशन समय पर उन्हें मिल जाये। न्यायालय ने यह भी सुनिश्चित किए जाने की आवश्यकता जतायी कि कोरोना महामारी के दौरान अकेले रहने वाले वरिष्ठ नागरिकों के अनुरोध पर समय पर सहायता प्रदान की जानी चाहिए। न्यायमूर्ति भूषण ने कहा कि अकेले रहने वाले वरिष्ठ नागरिकों को आवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की आपूर्ति का विशेष ख्याल रखा जाना चाहिए। राज्य सरकारों को भी किसी सहयोग का अनुरोध किये जाने पर तत्परता से कार्रवाई करनी चाहिए। शीर्ष अदालत का यह दिशानिर्देश राज्यसभा सांसद एवं वरिष्ठ अधिवक्ता डॉ. अश्विनी कुमार की याचिका पर जारी किया गया।           


50 हजार बेड तैयार करनें का निर्देश दिया

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एल-2 तथा एल-3 कोविड चिकित्सालयों में 50 हजार बेड यथाशीघ्र तैयार करने के निर्देश दिये हैं। इन बेड्स के लिए चिकित्सा कर्मियों सहित अन्य आवश्यक चिकित्सा सुविधाएं सुनिश्चित की जाएं। उन्होंने महानिदेशक, स्वास्थ्य तथा महानिदेशक, चिकित्सा शिक्षा को इस सम्बन्ध में समयबद्ध ढंग से कार्यवाही करने के निर्देश भी दिये।


मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने प्रत्येक जिले में इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेण्टर को प्रभावी रूप से क्रियाशील करने के निर्देश दिये और कहा कि जिस जिले में इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेण्टर स्थापित होने के बावजूद सुचारु रूप से कार्यशील नहीं हैं, ऐसे जिलों के जिलाधिकारी की जवाबदेही तय की जाएगी। उन्होंने होम आइसोलेशन में रह रहे संक्रमित मरीजों से इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेण्टर द्वारा दिन में दो बार दूरभाष से संवाद स्थापित कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त करने के निर्देश भी दिये । मुख्यमंत्री ने एम्बुलेंस व्यवस्था को और बेहतर करने के निर्देश दिये तथा कहा कि 108 एम्बुलेंस सेवा के साथ-साथ सरकारी चिकित्सालयों तथा मेडिकल काॅलेज की कुल एम्बुलेंस का 50 प्रतिशत कोविड मामलों में तथा शेष 50 प्रतिशत नाॅन कोविड मामलों में उपयोग किया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मरीजों के स्वास्थ्य की स्थिति के आधार पर सम्बन्धित कोविड चिकित्सालय में बेड उपलब्ध कराया जाए। कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए प्रत्येक स्तर पर सावधानी बरतना आवश्यक है। किसी को भी महामारी फैलाने की इजाजत नहीं दी जा सकती। उन्होंने कानपुर नगर की चिकित्सा सेवाओं को बेहतर करने तथा वेन्टिलेटर बेड्स की संख्या में वृद्धि करने के निर्देश भी दिये।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ग्रस्त इलाकों में प्रभावित लोगों को हर सम्भव राहत एवं मदद उपलब्ध करायी जाए। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की जनता को सूखा राशन दिया जाए। गांवों में राशन किट वितरित की जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 तथा संचारी रोगों के नियंत्रण के उद्देश्य से प्रत्येक शनिवार तथा रविवार को विशेष स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन अभियान का प्रभावी संचालन जारी रखा जाए।           


व्हाट्सएप शुरू कर रहा है पेमेंट सर्विस

नई दिल्ली। पॉपुलर मैसजिंग ऐप व्हाट्सएप (WhatsApp) अब भारत में अपनी सर्विस बढ़ाने की तैयारी में है। इस क्रम में जल्द ही आपको इस प्लेटफॉर्म पर पेमेंट सर्विसेज भी मिलेंगी। कंपनी का कहना कि NPCI, RBI की ओर से जारी डाटा (सर्वर भारत में होना चाहिए) और पेमेंट गाइडलाइंस पर सहमति जता चुका है। बता दें कि वॉट्सऐप ने अपनी पेमेंट सर्विस WhatsApp Pay का टेस्ट भारत में 2018 में शुरु किया था। यह UPI आधारित सर्विस यूजर्स को रुपए भेजने और प्राप्त करने की सुविधा देता है। इसका मुकाबला पेटीएम, फ्लिपकार्ट के फोनपे और गूगल पे से है, लेकिन अभी तक रेग्युलेटर्स की ओर से वॉट्सऐप को इसकी मंजूरी नहीं मिल पाई है।


शुरू करने की तैयारी


कंपनी का कहना है कि उनकी टीम सभी स्टैंडर्ड्स को पूरा करने के लिए पिछले साल से इस पर कड़ी मेहनत कर रही है। वॉट्सऐप भारत में निवेश करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया प्रोग्राम (Digital India Program) को आगे बढ़ाना चाहते है। हम फाइनेंशियल इन्कलूजन में तेजी लाने के लिए एक महत्वपूर्ण चैनल बनकर एक मजबूत भूमिका निभाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। डिजिटल इंडिया के तहत हम भारत में अपने सभी यूजर्स को जल्द ही पेमेंट सर्विस देने लिए उत्साहित हैं। वॉट्सऐप (WhatsApp) के भारतीय कारोबार के प्रमुख अभिजीत बोस ने हाल में बताया था कि कंपनी जल्द माइक्रोफाइनेंस सर्विस को लेकर नया पायलट प्रोजेक्ट शुरू करने की तैयारी में है। आपको इस प्लेटफॉर्म पर इंश्योरेंस, पेंशन और माइक्रो फाइनेंस जैसी सर्विस मिलने लगेगी। व्हाट्सऐप इन सभी सर्विसेज को आसान बनाने के लिए बैंक और वित्तीय संस्थाओं जैसे साझीदारों के साथ मिलकर काम करेगी। इसको लेकर पायलट प्रोजेक्ट भी शुरू हो सकता है।                


राजस्थान पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

मनोज सिंह ठाकुर


जयपुर। राजस्थान में लगभग एक महीने से राजनीतिक खींचतान चल रही है। सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के रूप में कांग्रेस दो धड़ों में बंट गई है। अभी भी दोनों धड़े अपने-अपने विधायकों को सुरक्षित करने में लगे हैं। इस दौरान सीएम अशोक गहलोत भाजपा पर चुनी हुई सरकार को गिराने की साजिश रचने का आरोप लगाते रहे है। इस मामले को लेकराब राजस्थान पुलिस की तरफ से भी बयान सामने आये है।


अशोक गहलोत सरकार को गिराने की कथित साजिश की जांच कर रही राजस्थान पुलिस ने अपनी जांच में पाया है कि राज्य में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष सतीश पूनिया ने सचिन पायलट कैंप के विधायकों से जुलाई महीने में दो बार मुलाकात की है। जबकि बीजेपी कहती रही है कि उसका कांग्रेस के भीतर आपसी विद्रोह से कोई लेना-देना नहीं है। सोमवार को एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।


सूत्रों के मुताबिक नाम नहीं बताने की शर्त पर इस जांच से जुड़े एक अधिकारी ने कहा, ‘पूनिया ने 18 जुलाई और 29 जुलाई के बीच दो बार सचिन पायलट कैंप के विधायकों से मुलाकात की थी।’ उन्होंने कहा कि पहली मीटिंग 18 जुलाई से 20 जुलाई के बीच और दूसरी मीटिंग 28 जुलाई को हुई। ये दोनों मीटिंग हरियाणा के मानेसर में हुई थी। यह पूछे जाने पर कि क्या जांच में सतीश पूनिया का नाम सामने आया है, एसओजी के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अशोक राठौर ने कहा कि मामले की जांच चल रही है और अब तक की गई जांच के निष्कर्षों से संबंधित विवरण का खुलासा नहीं किया जा सकता है।


हालांकि, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने किसी भी बागी विधायकों से मुलाकात से इनकार किया है। उन्होंने कहा, ‘मैं कभी पायलट या किसी अन्य बागी विधायक से नहीं मिला। पुलिस सरकार की भाषा बोल रही है।’ गौरतलब है कि राजस्थान में सियासी संकट का परिणाम यह हुआ कि सचिन पायलट को कांग्रेस की राज्य इकाई के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया और गहलोत सरकार में उपमुख्यमंत्री पद भी चला गया। 12 जुलाई को सचिन पायलट और उनका समर्थन करने वाले 18 विधायकों ने गहलोत के नेतृत्व पर सवाल उठाए थे और उन्हें हटाने के लिए कहा था।


वहीं, राजस्थान के सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सोमवार शाम जैसलमेर से जयपुर लौटे। इस दौरान उन्होंने कहा कि दुख है कि रक्षाबंधन के दिन विधायक घर नहीं जा सके। हमारी प्राथमिकता है कि लोकतंत्र मजबूत बने। यह सबकुछ लोकतंत्र बचाने के लिए किया जा रहा है। जनता पूरे खेल को देख रही है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में सरकार को गिराने की साजिश की जा रही है। यह तीसरी कोशिश थी। दो पहले हो चुकी हैं। कर्नाटक और मध्यप्रदेश के बारे में सभी के मालूम हैं। राजस्थान में भी ऐसा ही करने की तैयारी थी। इतना बड़ा सीटों का अंतर है फिर भी बेशर्मी से गेम खेला गया। कहां 73 और कहां 122 हमारे पास थे। हॉर्स ट्रेडिंग अभी भी की जा रही है। टेलीफोन आते हैं। सब हमारी जानकारी में है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार में बैठे नेता जनता की नजर से नहीं बचेंगे। सच्चाई हमारे साथ हैं। इस षडयंत्र में कुछ और लोग शामिल हैं। जिस तरह राजस्थान के केंद्रीय मंत्री ने गेम खेला, उन्हें धैर्य रखना चाहिए था। वो तो मैदान में कूद पड़े। राजस्थान की परंपरा को ही भूल गए। नए-नए एमपी बन गए। फिर मंत्री बनने का चांस मिल गया तो जल्दबाजी हो गई उनको। इसलिए मैंने कहा कि वो खुद धराशायी हो गए। सीबीआई के छापे तो उनके ऊपर पड़ने चाहिए। पड़ उन पर रहे हैं जिनके रिश्ते हम से जुड़े हैं।                    


नीति से नहीं अच्छी नियत से सुधरेगी शिक्षा

अजीत द्विवेदी


नई दिल्ली। लंबे इंतजार के बाद नई शिक्षा नीति का मसौदा सरकार ने मंजूर किया। अब इस नीति के आधार पर सरकार कानून बनाएगी और जहां जरूरी होगा वहां पुराने कानूनों को बदला जाएगा। अभी नई शिक्षा नीति सिफारिश के स्तर पर ही है, जिसे कानूनी दस्तावेज नहीं बनाया गया है इसलिए अभी से यह अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है कि अंत में यह किस रूप में सामने आएगा। यह भी अभी अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है कि सरकार इसमें से किस सिफारिश को किस अंदाज में कानूनी रूप देगी। ऊपर से शिक्षा को भारतीय संविधान की समवर्ती सूची में रखा गया है, जिसका मतलब है कि इससे जुड़ी नीतियां बनाने में राज्य सरकारों की भी भूमिका होती है और कई राज्य सरकारों ने अभी से सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं।


इससे कोई असहमत नहीं हो सकता है कि भारत में शिक्षा और स्वास्थ्य ये दो ऐसे क्षेत्र हैं, जिनमें सुधार सबसे ज्यादा जरूरी है। पर यह सुधार कैसे होगा? क्या सिर्फ नीति बना देने से शिक्षा में बदलाव आ जाएगा? शिक्षा में बदलाव लाने के लिए नीति से ज्यादा नीयत की जरूरत है और सबसे ज्यादा संदेह उसी को लेकर है। नीयत का बड़ा सवाल तो इसी बात को लेकर है कि, जिस नीति पर पिछले पांच साल से विचार हो रहा था और मसौदा दस्तावेज सौंपे जाने के बाद भी एक साल तक इस पर फैसला नहीं हुआ उसे एक वैश्विक महामारी के बीच स्वीकार किया गया है। सरकार की नीयत पर संदेह को सिर्फ एक उदाहरण से समझा जा सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट ने जिस नई शिक्षा नीति के मसौदे को मंजूर किया है उसमें चार साल के डिग्री कोर्स का प्रावधान है। इसके साथ ही मल्टीपल एक्जिट-एंट्री की बात कही गई है, जिसे बड़ी बात के तौर पर प्रचारित किया जा रहा है। महज पांच-छह साल पहले भाजपा ने इसी नीति का पुरजोर विरोध किया था।


इस देश में लोगों की याद्दाश्त इतनी कमजोर है कि किसी को यह बात याद नहीं है कि सात साल पहले दिल्ली विश्वविद्यालय में चार साल के डिग्री कोर्स की सिफारिश की गई थी। तब भाजपा ने इस नीति का पुरजोर विरोध किया था और 2014 के लोकसभा चुनाव में वादा किया था कि उसकी सरकार बनी तो वह चार साल के डिग्री कोर्स को खत्म कर देगी। केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के थोड़े दिन बाद ही यह प्रस्ताव वापस भी हो गया। दिल्ली विश्वविद्यालय के उस समय के कुलपति दिनेश सिंह ने चार साल का जो डिग्री कोर्स लागू किया था, उसमें दो साल के बाद डिप्लोमा, तीन साल के बाद डिग्री और चार साल के बाद ऑनर्स के साथ डिग्री देने का प्रावधान था। यह भी प्रावधान था कि जो छात्र चार साल में डिग्री लेंगे वे एक साल में पोस्ट ग्रेजुएट कर सकेंगे। भाजपा की जिद के कारण जून 2015 में यह प्रस्ताव वापस हुआ था और उसके ठीक पांच साल के बाद उसी नीति को हूबहू लागू किया जा रहा है। क्या इससे नीयत का सवाल नहीं पैदा होता है? जो नीति पांच-छह साल पहले बहुत खराब थी वह आज कैसे बहुत अच्छी हो गई?


नई शिक्षा नीति में कहा गया है कि शिक्षा का खर्च बढ़ाया जाएगा और सरकार जीडीपी का छह फीसदी शिक्षा पर खर्च करेगी। यह बहुत अस्पष्ट सी बात है। मौजूदा सरकार के पिछले छह साल के कार्यकाल में ऐसा कोई कदम नहीं उठाया गया है, जिससे यह लगे कि सरकार शिक्षा पर खर्च बढ़ाने जा रही है। उलटे शोध पर होने वाले खर्च में और छात्रों को मिलने वाली छात्रवृत्ति के फंड में कटौती होने की खबरें हैं। एक तरफ सरकार शिक्षा पर खास कर उच्च शिक्षा और शोध पर खर्च कम कर रही है। उच्च शिक्षा के बेहतरीन केंद्र किसी न किसी बहाने सरकार या सत्तारूढ़ दल के निशाने पर रहे हैं और अब एक दिन अचानक सरकार जीडीपी का छह फीसदी खर्च करने की बात करने लगी है। इसमें एक और पेंच है। सरकार ने 10+2 के पुराने प्रावधान को बदल कर 5+3+3+4 का फॉर्मेट बनाया है। पहले पांच का मतलब है पांचवी कक्षा तक की पढ़ाई, उसमें सबसे शुरुआती पढ़ाई आंगनवाड़ी केंद्रों पर भी हो सकती है। पर यह स्पष्ट नहीं है कि आंगनबाड़ी का बजट उस कथित छह फीसदी खर्च में जुड़ेगा या नहीं। इसका पता भी कानून बनने के बाद ही चलेगा।


इसी नीति में उच्च शिक्षण संस्थानों को स्वायत्त बनाने का प्रस्ताव भी है। ध्यान रहे उच्च शिक्षण संस्थाओं को स्वायत्त बनाने का प्रस्ताव काफी समय से लंबित है। दिल्ली विश्वविद्यालय सहित कई दूसरे विश्वविद्यालयों के चुनिंदा कॉलेजों को स्वायत्त बनाने का प्रस्ताव कुछ समय पहले आया था पर शिक्षकों और छात्रों के जबरदस्त विरोध की वजह से इसे रोकना पड़ा है। विरोध का कारण यह है कि स्वायत्तता के नाम पर कॉलेजों को सिर्फ फीस बढ़ाने की अनुमति मिलने वाली है। कॉलेज स्वायत्त तभी होंगे, जब वे अपना खर्च फीस के पैसे से निकालने लगेंगे। सोचें, ऐसे कॉलेजों में पढ़ाई कितनी महंगी हो जाएगी। यह असल में शिक्षा के निजीकरण और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण खत्म करने का एक परोक्ष प्रयास है। ऊपर से सरकार की मंशा पर इसलिए भी संदेह होता है क्योंकि इस नीति में यूजीसी और एआईसीटीई को खत्म करके उसकी जगह एक नई रेगुलेटरी बॉडी बनाने की बात कही गई है साथ ही यह भी कहा गया है कि शिक्षा मंत्री की अध्यक्षता में एक परामर्शदात्री समिति बनेगी और यह नई रेगुलेटरी बॉडी उस परामर्शदात्री समिति की सलाह से काम करेगी। इसका क्या यह मतलब नहीं हुआ कि नियंत्रण सरकार का ही रहेगा? संस्थानों को सिर्फ इस बात की स्वायत्तता मिलेगी कि वे फीस बढ़ा सकें और आरक्षण के प्रावधानों की अनदेखी कर सकें!


अगर यह नीति कानून बन जाती है तो विदेशी विश्वविद्यालयों को भारत में कैंपस खोलने की मंजूरी मिल जाएगी। जैसे इस समय निजी विश्वविद्यालय खुल रहे हैं वैसे ही विदेशी विश्वविद्यालयों के कैंपस खुल सकेंगे। सवाल है कि अगर सरकार पिछड़े, वंचित या आदिवासियों की हिस्सेदारी उच्च शिक्षा में बढ़ाना चाहती है तो वह वादा इन विश्वविद्यालयों से कैसे पूरा होगा? जो विदेशी विश्वविद्यालय खुलेंगे उनमें आरक्षण की क्या व्यवस्था होगी, गरीब और वंचितों के दाखिले का क्या प्रावधान होगा और फीस कौन तय करेगा? रिलांयस की यूनिवर्सिटी को खुलने से पहले ही भारत सरकार ने इंस्टीच्यूट ऑफ एमिनेंस का दर्जा दे दिया। अशोका यूनिवर्सिटी, शिव नाडार, जिंदल आदि के यूनिवर्सिटी खुले हैं, जिनमें लाखों रुपए की फीस है। दाखिले से लेकर नियुक्तियों तक में दलित, वंचित, आदिवासी, पिछड़ों को आगे लाने के लिए लागू किए गए एफर्मेटिव एक्शन में से कोई भी इन विश्वविद्यालयों में नहीं लागू होता है। सो, चाहे स्वायत्तता की बात हो या विदेशी संस्थानों को कैंपस खोलने की मंजूरी देने का मामला हो, इनका एक ही मकसद है शिक्षा के निजीकरण और उसके व्यावसायीकरण को ठोस शक्ल देना। मातृभाषा या स्थानीय भाषा को शिक्षा का माध्यम बनाने और छठी कक्षा से वोकेशनल कोर्स शुरू करने को लेकर भी बहस चल रही है इस पर कल विचार करेंगे।           


श्रद्धाः विधायक ने 1 लाख दीपक बांटे


  • अयोध्या की तरह छत्तीसगढ़ में भी मंदिर निर्माण से भारी उत्साह का माहौल

  • भाजपा द्वारा किए जा रहे धर्म की मार्केटिंग रोकना कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती


रायपुुर। रायपुर पश्चिम के विधायक व संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने आज सुबह से ही पूरे राजधानी रायपुर में जनता के बीच एक लाख दिया वितरित कर एक एक घर में कल भगवान राम के नाम एक दिया जलाने का निवेदन किया है। इस मौके पर विकास उपाध्याय ने कहा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के बाद कांग्रेस व अन्य सामाजिक संगठनों के लिए अब बड़ी चुनौती ये है कि भाजपा द्वारा धर्म के नाम पर किये जाने वाले मार्केटिंग को कैसे रोका जाए, ताकि पूरे देश में आपसी भाई चारा व प्रेम सदभावना बनी रहे।


विकास उपाध्याय कल राम भगवान के जन्मस्थली अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के शुभारंभ के अवसर पर पूरे रायपुर राजधानी को श्री राम मय बना देना चाहते हैं। इसके लिए वे एक एक घर में दिया जले के लिए घर घर मे खुद दिया पहुंचाने आज सुबह से ही अपने कार्यकर्ताओं के माध्यम एक लाख दिए वितरित कर चुके हैं। इस अवसर पर वे स्वयं एक एक स्टाल पर जा कर आम लोगों को दिया वितरित कर अपील कर रहे हैं कि कल श्री राम के नाम आप सभी अपने घरों में एक एक दिया जरूर जलायें। विकास उपाध्याय ने कहा छत्तीसगढ़ भगवान राम के कौशल्या माता की नगरी है,जो उत्साह अयोध्या में है उससे कहीं छत्तीसगढ़ में है। विकास ने कल 5 अगस्त को दीपावली की तरह सभी जनों से हर्षोल्लास के साथ राम भगवान के नाम मनाये जाने की अपील की है।


विकास उपाध्याय ने कहा भगवान राम हिंदुओं के आस्था के प्रतीक हैं और राम मंदिर का निर्माण पूरे हिन्दू धर्म की जीत है। साथ ही उन्होंने ये भी कहा हमें इस बात को लेकर भी सतर्क रहने की जरूरत है कि इस आस्था के प्रतीक भगवान राम का अब कोई राजनीतिकरण न हो। भगवान राम के नाम पर कोई राजनैतिक पार्टी वोट की राजनीति न करे।           


यूपीएससी ने फाइनल परिणाम की घोषणा की

नई दिल्ली। यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन ने सिविल सर्विस परीक्षा 2019 के फाइनल परिणामों की घोषणा कर दी है। इसके साथ ही कमीशन ने उन कैंडिडेट्स की प्रोविजनल अप्वाइंटमेंट्स की लिस्ट भी जारी कर दी है। सिविल सर्विस परीक्षा 2019 की लिखित परीक्षा यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा पिछले साल सितंबर में ली गई थी। इसके लिए पर्सनैलिटी टेस्ट इंटरव्यू फरवरी-अगस्त 2020 में लिया गया था। अब कमीशन ने मेरिट के आधार पर इसकी फाइनल लिस्ट जारी कर दी हैसिविल सर्विस परीक्षा 2019 की लिखित परीक्षा की रिजल्ट के आधार पर कैंडिडेट्स का फरवरी से लेकर अगस्त 2020 तक इंटरव्यू हुआ था। अब कमीशन ने इंटरव्यू के मेरिट के आधार पर कैंडिडेट की फाइनल लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट में प्रोविजनल अप्वाइंटमेंट्स के लिए सफल कैंडिडेट का नाम है।


बता दें कि यूपीएससी सिविल सर्विस की परीक्षा 2019 में प्रदीप सिंह नाम के कैंडिडेट ने टॉप किया है। इसके बाद दूसरे नंबर पर जतिन किशोर और प्रतिभा वर्मा का नाम है जिन्होंने दूसरी और तीसरी रैंक प्राप्त की है। इस लिस्ट में कुल 829 कैंडिडेट का नाम शामिल है जिन्हें अप्वाइंटमेंट के लिए रिकमेंड किया गया है। इसमें 304 जनरल कैटेगरी के कैंडिडेट, EWS के 78 कैंडिडेट, OBC के 251, SC के 129, ST के 67 कैंडिडेट शामिल हैं।


कचरा और कोरोना संक्रमितो में अंतर नहीं

अमरावती। न्यूज़ बाइट्स डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों को कचरा ढोने वाली गाड़ियों में भरकर अस्पताल ले जाया जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने इन घटनाओं पर निराशा जताई है। उन्होंने एक वीडियो ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।


वीडियो शेयर करते हुए नायडू ने कहा, “विजयनगरम जिले के जारजापुपेटा की BC कॉलोनी के तीन कोरोना मरीजों को कचरा ढोने वाली गाड़ी में अस्पताल ले जाया गया है। कोरोना के बारे में पता नहीं, लेकिन ये असहाय मरीज किसी दूसरी खतरनाक बीमारी का शिकार हो सकते हैं। इनसे इंसानों की तरह बर्ताव क्यों नहीं किया जा रह है।” वीडियो में दिख रहा है कि तीन लोगों को कचरे वाली गाड़ी में पीछे बैठाकर अस्पताल ले जाया जा रहा है। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद विजयानगरम के जिला मेडिकल और स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर रमना कुमारी ने कहा कि वो मामले की जांच के आदेश देंगी। उन्होंने कहा कि शुुरुआती जानकारी के मुताबिक यह मामला शुक्रवार का है।
वहीं नेल्लिमारला नगर पंचायत के कमिश्नर जेआर अप्पाला नायडू ने कहा, “जिला कलेक्टर के आदेश के मिलने के बाद मैंने जांच के आदेश दिए हैं। मुझे पता चला है कि कचरा ढोने वाली गाड़ी कोरोना के कारण मरने वाले लोगों के अंतिम संस्कार के लिए सोडियम हाइपोक्लोराइट, ब्लीचिंग पाउडर और नमक ढोने के लिए इस्तेमाल की जाती है।”
उन्होंने कहा कि गाड़ी में दिख रहे लोग कोरोना संक्रमित नहीं है। यह मरीजों को लाने के लिए इस्तेमाल नहीं की जाती। जून में श्रीकाकुलम इलाके में कोरोना वायरस के कारण जान गंवाने वाले लोगों के शवों को JCB और ट्रैक्टर की ट्रॉली में लादकर लाया जा रहा था।


 जब इन घटनाओं के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए और प्रशासन की आलोचना शुरू हुई तब अधिकारियों की नींद खुली। इसके बाद आनन-फानन में जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए गए। आंध्र प्रदेश 1,58,764 मामलों के साथ देश का तीसरा सबसे प्रभावित राज्य बना हुआ है। यहां अभी तक 1,474 लोगों की मौत हो चुकी है।हीं अगर पूरे देश की बात करें तो संक्रमितों की संख्या 18 लाख से पार पहुंच गई है। पिछले पांच दिनों से देश में रोजाना 50,000 से ज्यादा नए मरीज पाए जा रहे हैं।
कल मिले 52,972 नए मरीजों के साथ कुल मामले 18,03,695 हो गए हैं। वहीं 38,135 लोगों की मौत हुई है।              


महानायक बच्चन ने कहा, ठीक हूं धन्यवाद

मुंबई। बॉलीवुड सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने कोरोना से जंग जीत ली है। एक्टर होम क्वारनटीन में हैं और रेस्ट कर रहे हैं। अमिताभ के लिए दुनियाभर के तमाम प्रशंसकों की दुआएं और प्यार हमेशा से खास मायने रखते रहे हैं। अपने फैन्स को बिग बी एक्सटेंडेड फैमिली कह कर बुलाते हैं। अमिताभ का फैन तो हर कोई है। अब जब अमिताभ स्वस्थ हो चुके हैं तो अमूल ने भी उन्हें खास अंदाज में इसकी बधाई दी है।


अमूल हमेशा से अपने कॉमिक पोस्टर्स के जरिए लोगों के साथ जुड़ता है। लॉकडाउन में रामायण के रीटेलिकास्ट को दुनियाभर में पॉजिटिव रिस्पॉन्स मिला था। तब भी अमूल ने अपनी इस यूनिक स्टाइल में सीरियल को ट्रिब्यूट दिया था। अब जब करोड़ों लोगों के आइकन 78 वर्षीय अमिताभ बच्चन कोरोना जैसे खतरनाक वायरस को मात देकर पूरी तरह स्वस्थ होकर वापस लौटे हैं, तो अमूल ने भी बड़ी गर्मजोशी से एक्टर का स्वागत किया है। अमूल ने अमिताभ के सम्मान में एक पोस्टर जारी किया है जो वाकई में आकर्षक है।


पोस्टर खुद महानायक अमिताभ बच्चन ने अपने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है। कॉमिक फोटो में अमिताभ सोफे पर बैठे हैं और मोबाइल देख रहे हैं। अमिताभ के बगल में क्यूट लिटिल अमूल गर्ल भी बैठी हुई है। फोटो में सेंटर ऑफ अट्रैक्शन तो वो जगह है जहां लिखा हुआ है- AB बीट्स C. अमिताभ ने पोस्टर शेयर करते हुए लिखा- ”शुक्रिया अमूल, हमेशा अपने अद्भुत और जुदा पोस्टर कैंपेन्स में मेरे बारे में सोचने के लिए. वर्षों से ‘अमूल’ ने सम्मानित किया है मुझे, एक साधारण शख्सियत को ‘अमूल्य’ बना दिया तुमने!”


फैन्स ने बिग बी के लिए किए हवन


बता दें कि अमिताभ बच्चन कुछ हफ्तों पहले कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। उन्हें मुंबई के नानावटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अब वे पूरी तरह से स्वस्थ होकर घर वापस पहुंच चुके हैं। एक्टर की सलामती के लिए फैन्स ने प्रार्थना की दुआएं मांगी और हवन तक कर डाले। अमिताभ ने भी सभी का शुक्रिया अदा किया।


राम व अयोध्या भाजपा की बपौती नहीं

पवन देवांगन


नई दिल्ली । लंबी लड़ाई के बाद 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम का आयोजन होने जा रहा है। ऐसे में इसे लेकर राजनीति काफी तेज हो गई है। हाल ही में मध्य प्रदेश में बीजेपी की फायर ब्रांड नेता उमा भारती बीजेपी पर ही गोले दागते दिख रही हैं। उन्होंने बीजेपी कार्यकर्ताओं को समझाते हुए तीखे शब्दों में कहा है कि ‘राम के नाम पर बीजेपी का पेटेंट नहीं हुआ है।’
एक मीडिया वार्ता के दौरान बोलते हुए उमा भारती ने कहा है ‘राम के नाम पर किसी का पेटेंट नहीं हो सकता है। राम का नाम अयोध्या या बीजेपी के बाप की बपौती नहीं है। ये सबकी हैं, जो बीजेपी में हैं या नहीं हैं। जो किसी भी धर्म को मानते हो. जो राम को मानते हैं, राम उन्हीं के हैं।’ बता दें कि इससे पहले कयास लगाए जा रहे थे की अयोध्या में हो रहे राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती को आमंत्रित किया जा सकता है। वहीं उमा भारती ने साफ कर दिया है कि वह इस कार्यकर्म में शिरकत नहीं कर रही हैं। उनका कहना है कि कोरोनावायरस संक्रमण फैलने की वजह से मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बाकी लोगों के चले जाने के बाद ही रामलला के दर्शन करने जाऊंगी।
इसके साथ ही मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर के भूमि पूजन को टालने की बात कही थी। उनका कहना था कि चातुर्मास खत्म हो जाने के बाद भूमि पूजन किया जाना चाहिए। दरअसल चातुर्मास के दौरान किसी भी शुभ कार्य को नहीं किया जाता है, इसलिए ऐसे समय में हो रहे भूमि पूजन को टालने की बात कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कही है। वहीं उनका कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुविधा के अनुसार मुहूर्त निकाला गया है। उनका कहना है कि उमा भारती जी वहां क्यों नहीं जा रहीं ? अगर निमंत्रण मिला है तो उन्हें भी जाना चाहिए।           


नियम तोड़ने पर विधायक के खिलाफ मामला

अगरतला। भारतीय जनता पार्टी के विधायक और राज्य के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री सुदीप रॉय बर्मन के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए एक केस दर्ज किया गया है। दरअसल, उनपर आरोप है कि रविवार की शाम को वो कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन करते हुए अनाधिकृत तरीके से एक कोविड केयर सेंटर में गए थे। इस दौरान उन्होंने पीपीई सूट पहना हुआ था, लेकिन नियम के अनुसार वो कोविड सेंटर में नहीं जा सकते थे। दरअसल, सुदीप रॉय के विधानसभा क्षेत्र अगरतला के इस कोविड केयर सेंटर से एक मरीज ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें कहा गया था कि फैसिलिटी में मरीजों के लिए उचित सुविधा का अभाव है। इसके बाद विधायक पीपीई सूट पहनकर कोविड केयर सेंटर निरीक्षण के लिए चले गए, जिसके बाद उनपर यह एक्शन लिया गया है।


पश्चिमी त्रिपुरा के जिलाधिकारी ने उन्हे 14 दिनों के संस्थागत क्वारंटीन में रहने को कहा है ताकि ‘उनकी और दूसरों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।’ हालांकि, विधायक ने इसके पीछे दुर्भावना बताते हुए संस्थागत क्वारंटीन में जाने से इनकार कर दिया है। उन्होंने पूछा है कि डीएम की ओर से जारी आदेश उनतक पहुंचने से पहले ही मीडिया और सोशल मीडिया पर वायरल कैसे हो गया।


दरअसल, इस कोविड सेंटर को लेकर पिछले कुछ वक्त में कई मरीजों ने शिकायत दर्ज कराई थी। हाल ही में एक गर्भवती महिला ने एक फेसबुक लाइव में इस सेंटर की हालत बताते हुए राज्य सरकार से मदद मांगी थी। शिकायतें आने के बाद बर्मन ने इस सेंटर का दौरा करने का फैसला किया। उन्होंने मरीज़ों की मौजूदगी में ही मीडिया से कहा, ‘सेंटर में मरीजों की रहने की व्यवस्था देखकर मैं विचलित हूं। इसके लिए सख्त मॉनिटरिंग की जरूरत है।’ उन्होंने यहां पर मरीजों के बीच फल भी बांटे।


हालांकि, पश्चिमी त्रिपुरा के डीएम संदीप महात्मे एन ने उन्हें गाइडलाइंस के उल्लंघन का जिम्मेदार माना है। स्वास्थ्य मंत्रालय के नियमों के अनुसार बस ‘अधिकृत और प्रशिक्षित लोगों को ही ऐसी जगहों पर जाने और काम करने की अनुमति है’।


हालात सामान्य होने में अभी समय लगेगा

जेनेवा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने आगाह​ किया ​कि कोविड-19 की सटीक दवा कभी संभव नहीं है। उसने कहा कि हालात सामान्य होने में अभी वक्त लगेगा। कई देशों को इस पर अपनी रणनीति दोबारा बनानी चाहिए। संगठन ने वैक्सीन की प्रबल उम्मीद के बावजूद कोरोना वायरस की दवा को लेकर ऐसी बातें कही।


एजेंसी ने यह भी कहा कि दुनियाभर में हालात सामान्य होने में लंबा वक्त लगेगा। वहीं, डब्ल्यूएचओ के निदेशक टेड्रोस अदनोम घेबरेसस ने जेनेवा स्थित मुख्यालय से एक वर्चुअल ब्रीफिंग में कहा कि सरकारों और लोगों के लिए यह साफ संदेश है कि बचाव के लिए सब कुछ करें। दुनियाभर में इस महामारी से मुकाबले में फेस मास्क एकजुटता का प्रतीक बनना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र की इस स्वास्थ्य संस्था के प्रमुख ने कहा कि कई वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के तीसरे चरण में हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल कोई अचूक दवा नहीं है और संभवत: ऐसा कभी हो भी नहीं सकता। इस मौके पर टेड्रोस और डब्ल्यूएचओ के आपात मामलों के प्रमुख माइक रियान ने सभी देशों से कोरोना की रोकथाम के लिए मास्क, शारीरिक दूरी, हैंड-वाशिंग और टेस्टिंग जैसे उपायों को सख्ती के साथ लागू करने की अपील की।


अमेरिका में तेजी से बढ़ रहे संक्रमित
दुनिया में कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका में संक्रमित लोगों की संख्या तेज गति से बढ़ रही है। इस देश में पीड़ितों की संख्या 48 लाख के पार पहुंच गई है। अमेरिका के टेक्सास और फ्लोरिडा समेत कई दूसरे प्रांतों में भी तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। पूरे देश में अब तक कुल एक लाख 58 हजार से अधिक पीड़ित दम तोड़ चुके हैं।             


फुटबॉलर ने 75 करोड़ की कार खरीदी

पुर्तगाल। चर्चित फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने दुनिया की सबसे महंगी कार बुगाटी ला वाओएवर खरीदी है। रोनाल्डो जिस क्लब की तरफ से फुटबॉल खेलते हैं उस क्लब को हाल ही में 36 वीं सीरी ए चैंपियनशिप में जीत मिली थी। इसके बाद उन्होंने बतौर उपहार ये कार खुद के लिए खरीदी। कार की कीमत जानकर आप दंग हो जाएंगे। इस कार को खरीदने के लिए उन्होंने 75 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। जो कार रोनाल्डो ने खरीदी है उसे बनाने वाली कंपनी ने ऐसी 10 कारें ही बनाई हैं। बुगाटी ला वाओएवर (सेंटोडिसी) को खरीदने के लिए उन्होंने लगभग 8.5 मिलियन यूरो (लगभग 75 करोड़) की कीमत चुकाई है। 35 वर्षीय स्टार फुटबॉलर रोनाल्डो ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर कार की फोटो को अपने प्रशंसकों के लिए अपलोड किया और उन्हें जानकारी दी। दुनिया की सबसे महंगी कार के मालिक रोनाल्डो के गैरेज में अब जितनी कारें हैं उनकी कीमतों को अगर जोड़ दिया जाए तो यह 30 मिलियन यूरो यानी की लगभग 264 करोड़ रुपये से भी ज्यादा है।


बुगाटी ला वाओएवर कार 380 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ सकती है, 2.4 सेकंड इस कार की रफ्तार 60 किमी प्रति घंटा तक पहुंच जाती है. हालांकि इस कार के लिए रोनाल्डो को 2021 तक इंतजार करना पड़ेगा और उन्हें अगले साल इसकी डिलीवरी मिल जाएगी। हाल ही में, बुगाटी और नाइकी ने मिलकर क्रिस्टियानो रोनाल्डो के लिए एक विशेष बूट पेश किया है। स्पोर्ट्सवेयर ब्रांड ने ऑटोमोबाइल ब्रांड के साथ मिलकर “नाइके मर्क्यूरियल सुपरफ़्लरी CR7 Dieci” लॉन्च किया, जो सेंटोडाइसी या बुगाटी ला वाओएवर से प्रेरित है।                               


मंदिर निर्माण में शिवसेना ने ₹1 करोड़ दिए

मुंबई। शिवसेना ने राममंदिर निर्माण के लिए एक करोड़ रूपये की राशि दी है। उसने कहा कि पार्टी अपने सम्मानित नेता बाला साहब का वादा पूरा कर रही है।


महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने ट्वीट में लिखा कि, उनके पिता और शिवसेना के संस्थापक बाला साहेब ठाकरे ने मंदिर के निर्माण के लिए 1 करोड़ रुपए का योगदान देने का वादा किया था। यह राशि 27 जुलाई को जमा करा दी गई है। शिवसेना सांसद अनिल देसाई ने कहा कि राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने पार्टी द्वारा दी गई राशि को स्वीकार कर लिया है। उन्होंने कहा, मैं यह सब इसलिए कह रहा हूं क्योंकि महंत नृत्य गोपाल दास जो कि राम मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारीहैं। उन्होंने हाल ही में संवाददाताओं से कहा था कि मंदिर के लिए शिवसेना ने कोई योगदान नहीं किया था। गौरतलब है कि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का शिलान्यास करेंगे। इस भूमि पूजन समारोह में भारतीय जनता पार्टी के नेता और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी भी शामिल होंगे।              


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)


 अगस्त 05, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-356 (साल-01)
2. बुधवार, अगस्त 05, 2020
3. शक-1943, भाद्रपद, कृष्ण-पक्ष, तिथि- दूज, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:20,सूर्यास्त 07:18।


5. न्‍यूनतम तापमान 24+ डी.सै.,अधिकतम-37+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)               


जेडीयू को भी मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी मिलनी चाहिए

अविनाश श्रीवास्तव    पटना। केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार और उसमें जनता दल यूनाइटेड के शामिल होने की अटकलों के बीच जेडीयू अध्यक्ष आरसीपी सिं...