सोमवार, 23 जनवरी 2023

चेयरमैन ने 'हिंदू युवा वाहिनी' को सम्मानित किया 

चेयरमैन ने 'हिंदू युवा वाहिनी' को सम्मानित किया 

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। 'हिंदू युवा वाहिनी' जिला शामली के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को निवर्तमान चेयरमैन शामली ने गोल्ड मेडल से सम्मानित किया। सेंट आरसी पब्लिक स्कूल में स्वागत समारोह आयोजित किया गया। जिसमें हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली परिवार द्वारा किए गए अच्छे कार्यों की सराहना करते हुए निवर्तमान चेयरमैन अरविंद संगल ने वाहिनी के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को फूल माला व गोल्ड मेडल से सम्मानित किया।

इस अवसर पर चौधरी जुगमैंदर सिंह, बिट्टू कुमार, चौधरी रविंदर सिंह कालखंडे, अरविंद कौशिक, आशीष निरवाल, प्रदीप निर्वाल, अमित गर्ग, अनुराग गोयल, संत नरेश नाथ योगी, सतपाल बंसल, भानु प्रताप उपाध्याय, मनोज रुहेला, अंकित गर्ग, गौरव पटवारी, मांगेराम नामदेव, सुमित कौशिक पवन गोयल ,निल कौशिक, मणि कंबोज, डॉ राजेंद्र सिंह बालन, रिशपाल मोगा, योगेश रोहिल्ला ,राजेंद्र शर्मा, दीपक पाल, हर्ष वर्मा, दीपक वर्मा, अमित रोहिल्ला, वरुण भारद्वाज, अमरपाल सिंह ,नितिन शर्मा ,विपिन उर्फ वरुण, प्रवीण शर्मा, सुमित जांगिड़, संजीव जांगिड़, जगपाल चौहान, राजेश चौहान, डॉक्टर सौरभ चौहान, कुलदीप जांगिड, आशीष शर्मा आदि उपस्थित थे।

फाउंडेशन के तत्वाधान में बोस की जयंती मनाई

फाउंडेशन के तत्वाधान में बोस की 126वीं जयंती मनाई

गोपीचंद/भानु प्रताप उपाध्याय 

बागपत। सोमवार को सारथी वेलफेयर फाउंडेशन के तत्वाधान में बिनोली रोड नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती मनाई गई। कार्यक्रम का शुभारंभ नेताजी के चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर किया गया। इस मौके पर शिवानी जैन और सीमा अला हवत ने किसी भी महान व्यक्ति को याद करना तभी सार्थक होता है, जब हम उनके कदम पर चले। वंदना गुप्ता ने बच्चों को सम्मानित किया और समझाते हुए कहां हमारे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 126वीं जयंती बड़े धूमधाम से मनाई गई। उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की गई और उनके जीवन गाथा पर चर्चा की गई और इनका जन्म 23 जनवरी 1897 को ओडिशा के कटक में हुआ था। उनकी माता का नाम प्रभावती देवी था और पिता जी का नाम जानकीनाथ बोस था।

नेताजी ने अंग्रेजों के खिलाफ लडने के लिए जापान के सहयोग से आजाद हिंद फौज गठन किया गया था। नेताजी की विचारधारा देश भक्ति , स्वाभिमान और सहास की भावना बचपन से ही बड़ी प्रबल थी, वे अंग्रेजी शासन का विरोध करने के लिए अपने भारतीय सहपाठियों का भी मनोबल बढ़ाते थे। अपनी छोटी आयु में नेताजी ने यह मान लिया था कि जब तक सभी भारतवासियों को एक जुट होकर अंग्रेजो का विरोध नहीं करेंगे, जब तक हमारा देश आजाद नहीं होगा‌।

नेताजी ने आत्मविश्वास भाव‌ प्रवणता कल्पनाशीलता और नवजागरण के बल पर युवाओ में राष्ट्र के प्रति मुक्ती इतिहास की रचना का मंगल शंखनाद किया गया। नेताजी के लिए स्वाधीनता जीवन मरण का प्रश्न बन गया था। बस यही श्रद्धा, यही आत्मविश्वास, जिसमें ध्वनियां हो वही शक्ति वास्तविक सॄजक है। नेताजी ने पुणॅ स्वाधीनता को राष्ट्र के युवाओं के सामने एक मिशन के रूप में प्रस्तुत किया नेताजी ने युवाओं से आह्वान किया, कि जो इस मिशन में आस्था रखता है वह सच्चा भारतवासी हैं। बस उनके इसी आह्वान पर ध्वजा उठाए और आजादी के दिवानो की आज़ाद हिंद फौज बन गई।

संगीता गुप्ता, रेनू गीता और राकेश ने भी अपने विचार रखे और बच्चों पर सुभाष चंद्र बोस के नारे लगवाए और बाद में बच्चों को खाने का सामान भी वितरण किया। इस मौके पर सारथी वेलफेयर फाउंडेशन की अध्यक्ष वंदना गुप्ता, रेनू गुप्ता, संगीता गुप्ता, शिवानी जैन, राकेश, सीमा, गीता, विकास गुप्ता, अमित जैन, अनिल अरोरा आदि मौजूद रहे।

संवैधानिक मूल्यों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है 'सरकार'

संवैधानिक मूल्यों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है 'सरकार'

इकबाल अंसारी 

तिरुवनंतपुरम। केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने सोमवार को कहा कि उनकी सरकार वर्तमान में कई चुनौतियों का सामना कर रहे संवैधानिक मूल्यों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। विजयन ने यहां जारी विज्ञप्ति में कहा, हमारी राष्ट्रीय एकता की महत्वपूर्ण नींव और संविधान के मूल ढांचे के हिस्से लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता, बहुल मूल्य और संघवाद की रक्षा के लिए हमें विशेष प्रयास करने की जरूरत है। धार्मिक, भाषाई और अन्य क्षेत्रों में आधिपत्य की प्रवृत्ति अपनी एकता को मजबूत करने के लिए विविधता का सम्मान करने वाले लोकतंत्र के निर्माण में बाधा डालती है।

उन्होंने कहा कि एक मजबूत राष्ट्र के लिए एक मजबूत केंद्र, सशक्त राज्यों और सक्रिय रूप से कार्यरत स्थानीय सरकारों की आवश्यकता होती है। राष्ट्र की राजनीति की काया को मजबूत बनाने के लिए ताकतवर अंगों की आवश्यकता होती है। मुख्यमंत्री ने सामाजिक क्षेत्रों में राज्यों की भारी जिम्मेदारियों का हवाला देते हुए कहा कि उनकी वित्तीय स्थिति मजबूत होनी चाहिए। उन्हानें कहा कि राज्यों की उधार लेने की सीमा को कम करने के हाल के उपायों से स्वास्थ्य, शिक्षा और ढांचागत क्षेत्रों में उनके हस्तक्षेप का दायरा भी कम हो गया है। श्री विजयन ने कहा कि राजकोषीय अनुशासन को सही तरीके से लागू करने में राज्य सरकारों और केंद्र के लिए अलग-अलग मानदंड नहीं हो सकते हैं।

हमारे संविधान ने संघ और राज्यों के लिए विधायी स्थान प्रदान किया है। राज्यों के विधायी डोमेन में घुसपैठ एक सहकारी संघीय व्यवस्था के लिए अच्छा नहीं है। उन्होंने कहा कि विधानसभाएं लोगों की इच्छा का प्रतिनिधित्व करती है, लिहाजा कानून की भावना और विधायिका की मंशा की रक्षा की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रेस की स्वतंत्रता हर मजबूत लोकतांत्रिक समाज की एक प्रमुख विशेषता है। स्वतंत्र और निष्पक्ष मीडिया गतिविधियों की रक्षा की जानी है। देश के कुछ हिस्सों में अलग-अलग तरीकों से प्रेस की आजादी पर अंकुश लगाने के कुछ उदाहरण सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा, “मेरी सरकार हमेशा प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।

व्यवस्था और पांबदियों से संबंधित परामर्श जारी 

व्यवस्था और पांबदियों से संबंधित परामर्श जारी 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने सोमवार को गणतंत्र दिवस परेड के पूर्ण पूर्वाभ्यास (फुल ड्रेस रिहर्सल) और जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित मिलिट्री टैटू और ट्राइबल डांस कार्यक्रम की वजह से यातायात व्यवस्था को सुचारु रखने के लिए की गई व्यवस्था और लगाई गई पांबदियों से संबंधित परामर्श जारी किया है। यातायात पुलिस के मुताबिक, परेड का पूर्वाभ्यास पूर्वाह्न 10 बजकर 30 मिनट पर विजय चौक से शुरू हुआ और यह कर्तव्य पथ, सी-हेक्सागन, नेताजी सुभाष चंद्र बोस प्रतिमा गोलचक्कर, तिलक मार्ग, बहादुरशाह जफर मार्ग और नेताजी सुभाष मार्ग होते हुए लाल किले पर संपन्न होगा। परामर्श के मुताबिक, परेड के सुचारु पूर्वाभ्यास के लिए कर्तव्यपथ पर विजय चौक से इंडिया गेट पर रविवार शाम छह बजे से सोमवार को परेड संपन्न होने तक वाहनों की आवाजाही पर रोक रहेगी।

इसमें कहा गया है कि रफी मार्ग, जनपथ और मानसिंह रोड से कर्तव्यपथ की ओर भी रविवार रात 11 बजे से लेकर सुबह परेड खत्म होने तक जाने की अनुमति नहीं है। इंडिया गेट सी-हेक्सागन भी सोमवार सुबह नौ बजकर 15 मिनट से परेड के तिलक मार्ग पर पहुंचने तक बंद है। तिलक मार्ग, बहादुरशाह जफर मार्ग और सुभाष मार्ग सोमवार सुबह 10 बजकर 30 मिनट से यातायात के लिए बंद है। इन मार्गों पर दोनों तरफ से वाहनों की आवाजाही के लिए अनुमति परेड के वहां से आगे बढ़ जाने पर निर्भर करेगी। 

यातायात पुलिस ने यात्रियों को सलाह दी है कि वे सोमवार सुबह साढ़े नौ बजे से दोपहर एक बजे तक परेड वाले रास्तों पर जाने से बचे। परेड के पूर्ण पूर्वाभ्यास के दौरान सभी मेट्रो स्टेशनों पर सेवा चालू है, लेकिन केंद्रीय सचिवालय और उद्योग भवन मेट्रो स्टेशनों पर सुबह पांच बजे से दोपहर 12 बजे तक यात्रियों ट्रेन से उतरने या उसमें सवार होने की मनाही है। इस बीच, जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में सोमवार और मंगलवार को आयोजित मिलिट्री टैटू एंड ट्राइबल डांस कार्यक्रम के मद्देनजर इन दो दिनों के लिए यातायात परामर्श जारी किया गया है।

परामर्श में कहा गया कि यातायात को सुचारु रखने और दर्शकों की आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए आयोजन स्थल पर कुछ यातायात पाबंदियां प्रस्तावित की जा रही है। बयान के मुताबिक, रक्षा मंत्रालय स्वतंत्रता के 75वें साल में गणतंत्र दिवस समारोह के तहत जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में ‘मिलिट्री टैटू एंड ट्राइबल डांस’ उत्सव का सोमवार और मंगलवार को आयोजन कर रहा है। परामर्श में कहा गया कि कुछ पाबंदियों की वजह से लोधी रोड से एंड्रयूगंज फ्लाइओवर तक भीष्म पितामह मार्ग, लोधी रोड, मैक्स मूलर मार्ग, महर्षि रमण मार्ग, आर्चबिशप मार्ग, सुब्रमण्यम भारती मार्ग और लाला लाजपत राय मार्ग गलियारा प्रभावित है। 

पाबंदियों के मद्देनजर यात्रियों को सलाह दी गई है कि वे इन मार्गों पर सोमवार और मंगलवार को पूर्वाह्न 11 बजे से रात नौ बजे तक जाने से बचें। परामर्श में कहा गया कि दर्शकों और एससीओपीई कॉम्प्लेक्स, सीजीओ कॉम्प्लेक्स और आसपास के कार्यालयों में काम करने वाले कर्मचारियों सहित अन्य यात्रियों को सलाह दी जाती है कि वे सोमवार और मंगलवार को सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करें क्योंकि जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम का अपना मेट्रो स्टेशन है, जो दिल्ली मेट्रो की वॉयलट लाइन पर पड़ता है। 

राष्ट्रीय राजधानी में 15 फरवरी तक पैराग्लाइडर, पैरामोटर, मानवरहित हवाई यान (ड्रोन), अत्यंत हल्के यान, रिमोट संचालित यान, हॉट एयर बलून, छोटे आकार के यान, क्वाडकॉप्टर (चार रोटार वाला मानवरहित हेलीकॉप्टर) या विमान से पैरा जंपिंग जैसी गैर पारंपरिक उड़ान गतिविधियों की अनुमति नहीं है।

जज के सामने गुटखा खाकर पेश हुआ वकील

जज के सामने गुटखा खाकर पेश हुआ वकील

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। लोकतंत्र में न्याय का मंदिर न्यायालय को कहा जाता है। जज की कुर्सी एक ऐसी कुर्सी होती है, जिसपर बैठा शख्स न्याय और अनुशासन की प्रतिमूर्ति होता है। उसके सामने हर व्यक्ति एक समान होता है। यहां तक कि प्रधानमंत्री भी, फिर छोटे-मोटे पदों पर बैठे अधिकारियों को तो छोड़ ही दीजिए। कोर्ट में दलील देने वाले वकीलों को भी जज के सामने अनुशासन में ही रहना पड़ता है और अगर कभी उनका अनुशासन डगमगाता है तो फिर जज साहब उन्हें कायदे से समझाते भी हैं और जरूरत पड़ने पर डांट-फटकार भी मिलती है।

फिलहाल सोशल मीडिया पर ऐसे ही एक वकील का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसने कोर्ट में जज साहब के सामने गुटखा खाकर जाने की गलती कर दी। फिर उसे जज साहब ने जो भरपूर डोज दिया, उसे सुनकर यकीनन आपके चेहरे पर मुस्कान बिखर जाएगी।

वीडियो में आप देख सकते हैं कि दो जज अपनी-अपनी कुर्सियों पर विराजमान हैं और सामने दो वकील खड़े होकर किसी केस के सिलसिले में उन्हें दलीलें दे रहे हैं। इसी बीच जज साहब की नजर अचानक एक वकील के दांतों पर पड़ी, तो उन्होंने झट से वकील को ब्रश करके आने की सलाह दे दी। इसपर वकील उन्हें सॉरी बोलता है, लेकिन जज साहब यहीं पर नहीं थमते, बल्कि वो वकील से पूछ ही लेते हैं कि क्या आप कोर्ट में पान खा रहे हैं? इसपर वकील कहता है कि जज साहब वो पान नहीं खा रहे बल्कि गुटखा चबा रहे हैं। फिर क्या, भड़के जज साहब ने उन्हें ऐसी-ऐसी बातें कही कि वो सॉरी-सॉरी की रट लगाने लगे ?

इस मजेदार वीडियो को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर शेयर किया गया है और कैप्शन में लिखा है, बिन अनुशासन रे मना, सफल न होते काम! जीवन स्तर गिरने लगे, सके न कोई थाम! जगह कोई भी हो, अनुशासन बनाए रखना चाहिए। इसके साथ-साथ वकील साहब पर 5000 का जुर्माना भी लगा दिया।

राज्यपाल कोश्यारी ने पद छोड़ने की इच्छा जताई 

राज्यपाल कोश्यारी ने पद छोड़ने की इच्छा जताई 

अकांशु उपाध्याय/कविता गर्ग 

नई दिल्ली/मुंबई। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सोमवार को कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष पद छोड़ने की इच्छा जताई है। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि वह अपने जीवन का बाकी समय पढ़ने-लिखने समेत अन्य गतिविधियों में बिताना चाहेंगे।

कोश्यारी ने कहा, ‘‘माननीय प्रधानमंत्री के हालिया मुंबई दौरे के दौरान मैंने सभी राजनीतिक दायित्यों से मुक्त होने और बाकी जीवन पढ़ने-लिखने एवं अन्य गतिविधियों में बिताने की अपनी इच्छा से उन्हें अवगत कराया।’’ राजभवन की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, राज्यपाल ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री से उन्हें हमेशा प्यार और स्नेह मिला तथा वह उम्मीद करते हैं इस संबंध में भी उन्हें वही स्नेह मिलेगा। प्रधानमंत्री गत 19 जनवरी को कई परियोजनाओं के शिलान्यास और उद्धाटन के लिए मुंबई में थे।

कोश्यारी ने कहा, ‘‘राज्य सेवक या राज्यपाल के रूप में संतों, समाज सुधारकों और बहादुर सेनानियों की धरती महाराष्ट्र जैसे महान राज्य की सेवा करना मेरे लिए पूर्ण सम्मान और सौभाग्य की बात है।’’

महिला का अधिकार, गर्भपात कराना या नहीं ?

महिला का अधिकार, गर्भपात कराना या नहीं ?

कविता गर्ग 

मुंबई। बंबई हाई कोर्ट ने 32 सप्ताह की गर्भवती एक महिला को भ्रूण में गंभीर विसंगतियों का पता लगने के बाद गर्भपात की अनुमति देते हुए कहा है कि महिला को यह तय करने का अधिकार है कि वह गर्भावस्था को जारी रखना चाहती है या नहीं ? न्यायमूर्ति गौतम पटेल और न्यायमूर्ति एस जी दिगे की खंडपीठ ने 20 जनवरी के अपने आदेश में चिकित्सकीय बोर्ड की इस राय को मानने से इनकार कर दिया कि भले ही भ्रूण में गंभीर विसंगतियां हैं, लेकिन गर्भपात नहीं कराया जाना चाहिए, क्योंकि इस मामले में गर्भावस्था का अंतिम चरण है। 

आदेश के प्रति सोमवार को उपलब्ध कराई गई। सोनोग्राफी के बाद पता चला था कि भ्रूण में गंभीर विसंगतियां हैं और शिशु शारीरिक एवं मानसिक अक्षमताओं के साथ पैदा होगा, जिसके बाद महिला ने अपना गर्भपात कराने के लिए उच्च न्यायालय से अनुमति मांगी थी। अदालत ने अपने आदेश में कहा, भ्रूण में गंभीर विसंगतियों के मद्देनजर गर्भधारण की अवधि मायने नहीं रखती। याचिकाकर्ता ने सोच-समझकर फैसला किया है। यह आसान निर्णय नहीं है, लेकिन यह फैसला उसका (याचिकाकर्ता का), केवल उसका है। यह चयन करने का अधिकार केवल याचिकाकर्ता को है। यह चिकित्सकीय बोर्ड का अधिकार नहीं है।

अदालत ने कहा कि केवल देर हो जाने के आधार पर गर्भपात की अनुमति देने से इनकार करना न केवल होने वाले शिशु के लिए कष्टकारी होगा, बल्कि उस भावी मां के लिए भी कष्टदायक होगा, और इसकी वजह से कारण मातृत्व का हर सकारात्मक पहलू छिन जाएगा। अदालत ने कहा, कानून को बिना सोचे समझे लागू करने के लिए महिला के अधिकारों से कभी समझौता नहीं किया जाना चाहिए।

पीठ ने कहा कि चिकित्सकीय बोर्ड ने दंपति की सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति पर गौर नहीं किया। उसने कहा, बोर्ड वास्तव में केवल एक चीज करता है, क्योंकि देर हो गई, इसलिए अनुमति नहीं दी जा सकती। यह पूरी तरह गलत है, जैसा कि हमने पाया है। पीठ ने यह भी कहा कि भ्रूण में विसंगतियों और उनके स्तर का पता भी बाद में चला।

उद्योगों के लिए पूरा सहयोग देगी राज्य सरकार: सीएम 

उद्योगों के लिए पूरा सहयोग देगी राज्य सरकार: सीएम 

मनोज सिंह ठाकुर 

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को कहा कि उद्योगों के लिए राज्य सरकार पूरा सहयोग देगी, आइए और मध्य प्रदेश में उद्योग लगाइए। सीएम चौहान ने भोपाल के अचारपुरा औद्योगिक क्षेत्र में गोकलदास एक्सपोर्ट प्रायवेट लिमिटेड द्वारा स्थापित रेडीमेड गारमेंट इकाई का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि आज का दिन इस क्षेत्र के लिए सौभाग्य का दिन है, मात्र 16 माह में फैक्ट्री खड़ी कर देना चमत्कार से कम नहीं है। गारमेंट इकाई में विभिन्न प्रकार के परिधान निर्मित होंगे, जिनसे 5 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रसन्नता का विषय है कि परिधान इकाइयों में बहन-बेटियों के लिए रोजगार के अवसर अधिक होंगे। 

मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि स्थानीय जन को आवश्यक प्रशिक्षण देकर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे। चौहान ने इससे पहले परिसर में स्थित सिद्धिविनायक मंदिर में पूजा की। मंत्रोच्चार के बीच फीता काट कर और शिला पट्टिका का अनावरण कर रेडीमेड गारमेंट इकाई का उद्घाटन किया। औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, बैरसिया विधायक विष्णु खत्री और गोकलदास एक्सपोर्ट के शिव रामाकृष्णन गणपति तथा प्रभात कुमार सिंह सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 मुख्यमंत्री ने हाल ही में इंदौर में संपन्न ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट में मिले 15 लाख करोड़ से अधिक के निवेश प्रस्तावों का उल्लेख करते हुए उद्योगपतियों से आह्वान किया कि वे आएं और औद्योगिक क्षेत्रों में जमीन मिलते ही तेजी से काम शुरू करें। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में वस्त्र उद्योग तेजी से फल-फूल रहा है और यहां के परिधान दुनिया में धूम मचाएंगे। उन्होंने उद्योगपतियों से महिला स्व-सहायता समूहों को प्रशिक्षण देने का आह्वान भी किया। 

चौहान ने कहा कि गोकलदास गारमेंट बेंगलुरू से आए हैं और रोजगार का तोहफा लाएं हैं। उन्होंने कंपनी से आग्रह किया कि वे युवाओं को प्रशिक्षित करें, जिससे उनके पास स्किल्ड वर्क फोर्स हों। उन्होंने कंपनी की तारीफ की कि वे अपने उद्योग में 80 प्रतिशत महिलाओं को रोजगार दे रहे हैं। उन्होंने कंपनी से कहा कि वे यहां और भी निवेशकों को लेकर आएं। श्री चौहान को कंपनी के एमडी श्री कृष्णन ने फैक्ट्री में बने पहले उत्पाद भेंट किए। 

मुख्यमंत्री ने फैक्ट्री की विभिन्न इकाइयों का भ्रमण कर रेडीमेड गारमेंट तैयार करने का जायजा भी लिया। इकाई में अधिकांश महिलाएं कार्यरत थी। उन्होंने बड़ी संख्या में बहन-बेटियों को रोजगार देने पर प्रसन्नता व्यक्त की और महिलाकर्मियों से कार्य की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने महिलाकर्मियों को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं भी दी।

गुरबत का सांप    'संपादकीय'

गुरबत का सांप    'संपादकीय'


कभी-कभी जिंदगी में,

ऐसा समय आता है।

एक निर्जीव पत्थर भी,

जीवन बन जाता है।

विश्व के आलेखन के अनुसार,  विश्व में अक्सर अनेकों तरह के अजूबे होते रहते है। इसके अनुरूप पृथ्वी पर प्रकट हुए अनेक प्रकार के सांप पत्थरों पर चलना ही अधिक पसंद करते है। लेकिन, इन सबसे अलग एक सांप, जिसे 'गुरबत का सांप' कहा जाता है। वह ना दिखता है, ना चलता है, ना उड़ता है और ना तैरता है‌‌। वह फिर भी 'गुरबत का सांप' कहलाता है। वर्तमान में देखा जाए, तो भारत में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर 'गुरबत का सांप' सवार है। उसके पश्चात अब 'गुरबत के सांप' के कटघरे में भाजपा आ गई है। हालांकि, यह ठीक-ठीक नहीं कहा जा सकता है। वैसे, एक नजरिए से देखा जाएं, तो कुछ-कुछ ऐसा ही लगता है। इसके बाद भी इस मामले की गंभीरता से पुष्टि नहीं हुई है। फिर भी यह एक कड़वा सच लगता है। 

कोविड-19 महामारी से बचाव हेतु अभियान चलाया गया था। टीकाकरण अभियान भाजपा की 'भयावह' रणनीति का एक अहम हिस्सा है। इसके अतिरिक्त आपको यह भी बताते चलें, कि (कोविड-19) महामारी को मजाक में लेना, भारी पड़ सकता है। दुनिया भर में अभी तक कोरोना के कुल केसों की संख्या-66,86,46,404 हो गई। इसके साथ-साथ अभी तक कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या-67,38,653 हो गई। इससे अधिक खास बात यह है, कि दुनिया भर में कोरोना की कुल 13,22,61,15,781 खुराकें दी गईं। 

इससे अधिक महत्वपूर्ण बात यह है, कि भारत में बीते वर्ष-2020 में कोविड-19 महामारी का आर्थिक प्रभाव काफी हद तक विघटनकारी रहा है। सांख्यिकी मंत्रालय के अनुसार, वित्त वर्ष 2020 की चौथी तिमाही में भारत की विकास दर घटकर 3.1% रह गई। भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने कहा, कि यह गिरावट मुख्य रूप से भारतीय अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस महामारी के प्रभाव के कारण है। विशेष रूप से, भारत भी महामारी से पहले मंदी का सामना कर रहा था और विश्व बैंक के अनुसार, कोरोना वायरस महामारी ने "भारत के आर्थिक दृष्टिकोण के लिए पहले से मौजूद जोखिमों को बढ़ा दिया है"।

(कोविड-19) महामारी भी एक 'गुरबत के सांप' की तरह ही है, जो अगर किसी पर चिपक जाएं, तो छाप मारकर ही दम लेती है। अगर एक अलग दृष्टिकोण से देखा जाए, तो इसमें भाजपा की एक महत्वपूर्ण भूमिका एवं प्रतिस्पर्धा भी हो सकती है। भाजपा की सख्त नजर भी, एक 'गुरबत के सांप' की तरह ही है।

चंद्रमौलेश्वर शिवांशु 'निर्भयपुत्र'

हिजाब पर प्रतिबंध, सुनवाई के लिए 'एससी' तैयार 

हिजाब पर प्रतिबंध, सुनवाई के लिए 'एससी' तैयार 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। सरकारी स्कूल कॉलेजों में हिजाब पर लगाए गए प्रतिबंध के मामलें को लेकर दाखिल की गई याचिका पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट तुरंत तैयार हो गया है। सीजेआई ने कहा है कि वह इस मामले को देखेंगे और फिर इसे तीसरी बेंच को सुपुर्द करेंगे। सोमवार को वरिष्ठ अधिवक्ता मीनाक्षी अरोड़ा की ओर से सीजेआई के सामने हिजाब पर प्रतिबंध का मामला रखा गया। इस मामले की अर्जेंट सुनवाई की मांग करते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता ने अपनी याचिका में कहा है कि अगले दिनों विभिन्न बोर्डों एवं कालेजों की परीक्षाएं आरंभ हो रही है, जिसमें मुस्लिम लड़कियों को भी परीक्षा देनी है। ऐसे में मुस्लिम लड़कियों को परीक्षा में शामिल होने के लिए तत्काल आदेशों की आवश्यकता है। 

सीनियर वकील ने कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा है कि सरकारी आर्डर के हिसाब से राज्य के स्कूल एवं कॉलेजों में हिजाब की इजाजत नहीं है। ऐसे हालातों में मुस्लिम लड़कियों को अपनी परीक्षा की चिंता सता रही है। याचिका पर सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा है कि वह इस मामले को देखेंगे और फिर तीसरी बेंच के सामने हिजाब पर बैन के मामले को रखा जाएगा। वकील का कहना है कि कई छात्राएं पहले भी 1 साल का नुकसान उठा चुकी है। सरकारी कालेजों में हिजाब पर प्रतिबंध लगने के बाद अनेक छात्राओं ने निजी कॉलेजों में एडमिशन ले लिया है‌ लेकिन परीक्षाएं सरकारी कॉलेजों में ही कराई जानी है। ऐसे में हम अंतरिम दिशानिर्देशों की सुप्रीम कोर्ट से मांग करते हैं।

अक्षय व इमरान की फिल्म 'सेल्फी' का ट्रेलर रिलीज 

अक्षय व इमरान की फिल्म 'सेल्फी' का ट्रेलर रिलीज 

कविता गर्ग 

मुंबई। बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार और इमरान हाशमी की आने वाली फिल्म 'सेल्फी' का ट्रेलर रिलीज हो गया है। राज मेहता के निर्देशन में बन रही सेल्फी वर्ष 2019 में प्रदर्शित मलयालम भाषा की कॉमेडी-ड्रामा 'ड्राइविंग लाइसेंस' की रीमेक है। इस फिल्म में अक्षय कुमार और इमरान हाशमी की मुख्य भूमिका है। करण जौहर के नेतृत्व वाले धर्मा प्रोडक्शंस ने बैनर तले बन रही सेल्फी का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है। अक्षय कुमार ने इसे अपने सोशल मीडिया हैंडल से शेयर किया है।अक्षय कुमार ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा है, "इस कहानी का विलेन तो पता नहीं, पर हीरो सेल्फी है। सेल्फी का ट्रेलर अभी देखें। सेल्फी 24 फ़रवरी को सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है।"

ट्रेलर में अक्षय कुमार का एक्शन सबका दिल जीत रहा है तो वहीं इमरान हाशमी की अदाकारी खूब पसंद आ रही है। अक्षय और इमरान के अलावा नुसरत भरूचा और डायना पेंटी की झलक भी ट्रेलर में देखने को मिल रही है। गौरतलब है कि मलयालम फिल्म 'ड्राइविंग लाइसेंस' में पृथ्वीराज सुकुमारन ने एक पॉपुलर सुपरस्टार का रोल निभाया था, जबकि विजय वेंजरममूदु मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर के रोल में नजर आए थे। अक्षय कुमार इस फिल्म में पृथ्वीराज सुकुमारन वाला किरदार निभा रहे हैं, जबकि इमरान हाशमी विजय वेंजरममूदु वाले किरदार में दिखाई देंगे।

इस फिल्म की कहानी एक मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर के इर्द-गिर्द घूमती है, जो एक सुपरस्टार का फैन है। वह एक मुश्किल परिस्थिति से उसे निकालने का फैसला लेता है। लेकिन शर्त रख देता है कि वह उससे पर्सनली मिलना चाहता है। दोनों की मुलाक़ात होती है और मीटिंग में दोनों के बीच ऐसा कुछ होता है कि दोनों आपस में भिड़ जाते हैं। उनकी लड़ाई का असर उनकी प्रोफेशनल लाइफ पर भी पड़ता है।

चिश्ती के दरबार में 26 को वसंत पेश किया जाएगा

चिश्ती के दरबार में 26 को वसंत पेश किया जाएगा

नरेश राघानी 

अजमेर। राजस्थान में अजमेर स्थित विश्व विख्यात सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के दरबार में 26 जनवरी को वसंत पेश किया जाएगा। ख्वाजा गरीब नवाज को केसरिया रंग के फूलों से बेहद लगाव था। यही कारण है कि इस बार वसंत पेश करने का मौका दौराने 811वें उर्स के मौके पर पड़ रहा है। गरीब नवाज के दरबार में सदियों से वसंत पेश करने की परंपरा रही है। 26 जनवरी को वसंती फूलों का जुलूस गुलदस्तों के शक्ल में दरगाह के मुख्य निजामगेट से शुरु होगा, जो मजार शरीफ तक पहुंचेगा।

इसमें आगे शाही कव्वाल वसंत से जुड़े नगमे पेश करेंगे। यूं वसंत पंचमी 25 जनवरी को है। इधर, चांद रात को रजब का चांद दिखाई नहीं देने से गरीब नवाज के 811वें सालाना उर्स का आगाज आज रात से शुरु होगा और पहला गुस्ल दिया जाएगा। 24 जनवरी को रजब माह की पहली तारीख होगी।इस नाते 28 तारीख को कुल की रस्म अदा की जाएगी और इससे एक दिन पहले उर्स में जुम्मे की बड़ी नमाज होगी। 1 फरवरी को बड़े कुल की रस्म के साथ उर्स का समापन हो जाएगा और उर्स में खोला गया जन्नती दरवाजा भी मामूल कर दिया जाएगा।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-104, (वर्ष-06)

2. मंगलवार, जनवरी 24, 2023

3. शक-1944, पौष, शुक्ल-पक्ष, तिथि-दूज, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 07:28, सूर्यास्त: 05:40। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 11 डी.सै., अधिकतम- 20+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय'

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय' 'भारत' देश है हमारा, संविधान पर विवाद नहीं। 'सभ्यता' सबसे पहले आई, ...