मंगलवार, 29 अक्तूबर 2019

भारत तीसरा बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम

सऊदी अरब में बोले पीएम मोदी- भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम बना


रियाद! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को सऊदी अरब के सालाना वित्तीय सम्मेलन फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशटिव में शिरकत किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि सऊदी अरब और भारत का रिश्ता हजारों साल पुराना है। पीएम ने अपने भाषण में टेक्नॉलोजी के विकास पर जोर दिया।


मोदी ने कहा कि टेक्नॉलोजी के विकास के लिए भारत ने स्टार्टअप, रिसर्च एंड डवलपमेंट और स्कूल लेवल पर इनोवेशन पर जोर दिया है। आज भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्ट अप इकोसिस्टम बन गया है। भारतीय स्टार्टअप मेडिकल, टूरिज्म, फ़ूड और सभी क्षेत्रों में अपना योगदान दे रहे हैं। पीएम मोदी ने सऊदी अरब के इन्वेस्टर्स से भारत के स्टार्टअप में निवेश करने की अपील भी की।


मोदी ने कहा कि भारत जल्द 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनने जा रहा है और हमने इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए 7 बिलियन डॉलर का निवेश का लक्ष्य रखा है। उन्होंने वन नेशन वन पावर ग्रिड, वन नेशन वन गैस ग्रिड और वन नेशन वन मोबिलिटी कार्ड जैसे कार्यक्रमों की भी जानकारी दी। पीएम मोदी ने कहा कि भारत में निवेश करना दुनिया भर के निवेशकों के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद साबित होने जा रहा है।


भारत की स्वतंत्रता को 2022 में 75 साल पूरे होंगे। हमने इस समय तक न्यू इंडिया बनाने का लक्ष्य रखा है। उस नए भारत में नया सामर्थ होगा। हम ईज ऑफ डूइंग बिजनस में ही नहीं बल्कि ईज ऑफ लिविंग में भी सुधार का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि समर्थ और शक्तिमान भारत सिर्फ अपने लिए ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लिए उल्लास और शांति का स्रोत है। जब हम ताकतवर थे, तो किसी पर बल प्रयोग नहीं किया, भारत ने अपनी क्षमता और उपलब्धियों को बांटा है। हमने पूरी दुनिया को एक परिवार माना है।


राष्ट्रगान गाते समय सुरक्षाकर्मी मूर्छित

नई दिल्ली! दिल्ली में राष्ट्रीय कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व पुरस्कार कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जहां सुरक्षा में तैनात एक महिला पुलिसकर्मी राष्ट्रगान बजने के दौरान गिरकर घायल हो गई। 


राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मानवीयता का परिचय देते हुए मंच से उतरकर महिला पुलिस कर्मी से मुलाकात की। महिला पुलिस कर्मी विज्ञान भवन में राष्ट्रीय सीएसआर पुरस्कार समारोह के दौरान मंच के आगे खड़ी थीं। राष्ट्र गान बजते ही महिलाकर्मी गिर पड़ी और कालीन पर बैठ गई।


राष्ट्र गान खत्म होते ही कोविंद केन्द्रीय मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर से कुछ बात करते दिखे और फिर सुरक्षाकर्मियों के साथ मंच से नीचे आए। इसके बाद उन्होंने महिला पुलिस कर्मी से बातचीत की और ठाकुर ने उन्हें पानी की बोतल दी।राष्ट्रपति आमतौर पर राष्ट्र गान के बाद समारोह स्थल से चले जाते हैं। कोविंद के समारोह स्थल से जाते समय लोगों ने तालियां बजा कर उनका अभिवादन किया।


8 दिन का वक्त, पांच अहम मामले

गोगोई के पास 8 दिन का वक्त और पांच अहम मामले


नई दिल्ली, 29 अक्टूबर । चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के रिटायर होने के पहले आठ कार्य दिवस बचे हैं। सुप्रीम कोर्ट दीपावली के अवकाश के बाद चार नवम्बर को खुलेगा। चार नवम्बर से 17 नवम्बर के बीच आठ ही कार्य दिवस बचेंगे, जिसमें चीफ जस्टिस को फैसले सुनाने हैं। इन आठ कार्य दिवसों में चीफ जस्टिस को पांच महत्वपूर्ण मामलों पर फैसला सुनाना है।
चीफ जस्टिस को जिन महत्वपूर्ण मामलों पर फैसला सुनाना है, उनमें सबसे महत्वपूर्ण है अयोध्या मामला। सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संविधान बेंच ने पिछले 16 अक्टूबर को अयोध्या मामले पर फैसला सुरक्षित रख लिया था। इस संविधान बेंच में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के अलावा जस्टिस एसए बोब्डे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अब्दुल नजीर, और जस्टिस अशोक भूषण शामिल हैं।
अयोध्या के बाद चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय बेंच को राफेल मामले पर दायर रिव्यू पिटीशन पर भी फैसला सुनाना है। पिछले 10 मई को रिव्यू पिटीशन पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। रिव्यू पिटीशन पर सुनवाई करने वाली बेंच में चीफ जस्टिस के अलावा जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसेफ शामिल हैं। इस मामले पर सुनवाई के दौरान जहां याचिकाकर्ता के वकील प्रशांत भूषण ने फ्रांस के साथ हुए विमान सौदे को संदेहास्पद बताते हुए जांच की मांग की। वहीं केंद्र की ओर से अटार्नी जनरल ने कहा कि याचिकाकर्ता कोर्ट को गुमराह कर रहे हैं। इसलिए दिसंबर में आया फैसला बदलने की जरुरत नहीं है।
चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान बेंच को केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के मामले पर दायर 64 रिव्यू पिटीशंस पर भी फैसला सुनाना है। पिछले छह फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने रिव्यू पिटीशंस पर फैसला सुरक्षित रख लिय़ा था। सुनवाई करने वाली बेंच में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के अलावा जस्टिस आर.एफ. नरीमन, जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदू मल्होत्रा शामिल हैं।
चीफ जस्टिस के दफ्तर को सूचना के अधिकार कानून के दायरे में लाने के मसले पर भी इन्हीं आठ कार्य दिवसों में फैसला सुनाया जाएगा। पिछले चार अप्रैल को चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की संविधान बेंच ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। इन मामलों के अलावा भी कुछ मामले हैं, जिन पर चीफ जस्टिस को अपने रिटायर होने के पहले फैसला सुनाना है


ट्रक में मिले 30 प्रतिबंधित पशु:लखनऊ

लखनऊ! राजधानी के चिनहट क्षेत्र में मंगलवार को कमता चौराहे से मटियारी चौराहे की ओर से जा रहे एक ट्रक से 30 प्रतिबंधित पशुओं को बरामद किया गया। चिनहट थाना के प्रभारी निरीक्षक सचिन सिंह ने बताया कि पकड़ा गया ट्रक का नम्बर फैजाबाद का है। माना जा रहा है कि ट्रक को पश्चिम उत्तर प्रदेश से लखनऊ के रास्ते बाराबंकी होते हुए फैजाबाद ले जाया जा रहा था। इसी दौरान लखनऊ में चिनहट थाने की पुलिस ने ट्रक को पकड़ा है। ट्रक को रोके जाने के वक्त ही उसका चालक और खलासी मौके से भाग निकले थे। 


उन्होंने बताया कि ट्रक को प्रतिबंधित पशुओं 30 बैलों सहित कान्हा उपवन भेजा गया है। जहां पर उनकी गिनती करायी जा रही है। पुलिस अपनी कार्यवाही में ट्रक को जब्त करने के साथ ही मुकदमा पंजीकृत कर पशु तस्करों की गिरफ्तारी के प्रयास करेगी। ट्रक के मालिक का भी पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है।


एनसीआर में सक्रिय पांच लुटेरे गिरफ्तार

तीन तमंचे व लूट के 2.61 लाख रुपये बरामद


नोएडा व जयपुर में लूट की रची थी साजिश


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। थाना इंदिरापुरम पुलिस ने मंगलवार को वसुंधरा सेक्टर 14 से एनसीआर में सक्रिय पांच शातिर लुटेरों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इनके कब्जे से लूट के 2.61 लाख रुपये बरामद किये हैं। कुछ दिन पहले  इन्होंने एक दूधिया से 50 हजार रुपये लूटे थे। पुलिस ने बताया कि ये लोग नोएडा और जयपुर में करोड़ों की लूट की वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे लेकिन इससे पहले ही धर लिये गए। 


एसएसपी सुधीर कुमार सिंह ने मंगलवार को बताया कि इंदिरापुरम थाना प्रभारी महेंद्र सिंह मंगलवार को सेक्टर 14 वसुंधरा में नर्सरी के पास वाहनों की चेकिंग कर रहे थे। उसी दौरान मुखबिर की पुख्ता सूचना पर मोटर साइकिल व स्कूटी पर सवार वहां से गुजर रहे पांच युवकों को हिरासत में लेकर उनकी तलाशी ली। तलाशी में उनके पास से दो पिस्टल, एक तमंचा और कारतूस बरामद हुए। पूछताछ करने पर इन्होंने अपने नाम संजीव, सोनू कपिल, रोहित, संदीप जाटव, शोकेन्दर बताए । ये सभी सिंभावली थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। कपिल इनका गैंग लीडर है।


एसएसपी  ने बताया कि पूछताछ में पता चला कि यह लोग एनसीआर क्षेत्र में आकर पहले रेकी करते थे और जहां मोटे लेनदेन की जानकारी मिलती थी, साजिश रचकर संबंधित व्यक्तियों से लूट कर लेते थे। उन्होंने बताया कि 16 अक्टूबर को इन लोगों ने वसुंधरा में एक दूधिया से तमंचों के बल पर 50 हजार रुपये लूटे थे। मुरादनगर में एक्सप्रेसवे के पास से इन्होंने एक व्यक्ति से 36 हजार रुपये लूटे थे। उन्होंने ने बताया कि इनकी योजना नोएडा में एक फैक्टरी के कैशियर से 25 लाख तथा जयपुर की एक कंपनी से सवा करोड़ रुपये लूटने की थी। पुलिस ने इनके कब्जे से लूट के 2.61 लाख रुपये बरामद किए हैं। फिलहाल इनका आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है।


स्ट्रीट क्राइम कंट्रोल वाहन को हरी झंडी

रिपोर्ट : अजीत कुमार


नई दिल्ली! राजधानी दिल्ली मे अपराध पर अंकुश लगाने के लिहाज से मंगलवार को दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक ने स्ट्रीट क्राइम पेट्रोल वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। आपको बता दें कि प्रखर वाहन की शुरुआत खासतौर स्ट्रीट क्राइम को रोकने के मकसद से की गई है, जिसकी शुरूआत केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी द्वारा सितंबर में की गई थी।


राजधानी दिल्ली में अपराध का ग्राफ थमने का नाम नहीं ले रहा है। जबकि दूसरी ओर दिल्ली पुलिस इस पर अंकुश लगाने के लिए लगातार प्रयासरत है। जिसके लिए दिल्ली पुलिस तमाम योजनाओं को धरातल पर उतारने का काम कर रही है। और इन्ही में से एक है प्रखर स्ट्रीट क्राइम पेट्रोल वाहन जिसकी शुरूआत सितंबर में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी द्वारा की गई थी। इसी को आगे बढ़ाते हुए मंगलवार को दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक ने 15 स्ट्रीट क्राइम पेट्रोल वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इन वाहनों को विशेष रूप से सड़क अपराधों के साथ-साथ कमजोर क्षेत्रों में महिलाओं के खिलाफ अपराधों को रोकने के लिए काम सौंपा गया है।
आपको बता दें कि राजधानी दिल्ली में स्ट्रीट क्राइम के ग्राफ पर अंकुश लगाने के लिए दिल्ली पुलिस द्वारा इस नई सेवा की शुरुआत की है। गौरतलब है, कि प्रत्येक प्रखर वाहन वायरलेस सेट के अलावा इनबिल्ट जीपीएस के साथ मोबाइल डेटा टर्मिनल से भी लैस है। इसके आलावा स्टाफ को विशेष रूप से सड़क अपराधों से निपटने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। प्रखर स्ट्रीट क्राइम पेट्रोल वाहन स्ट्रीट क्राइम के रोकने के मकसद के साथ दिल्ली की सड़को पर घूमेगी। प्रखर स्ट्रीट क्राइम पेट्रोल वाहन की शुरुआत खासतौर पर स्ट्रीट क्राइम के लिए किया गया है। जो ना सिर्फ स्ट्रीट क्राइम पर नजर बनाए रखेगा बल्कि उसे रोकने के लिए भी काम करेगा। इस वाहन के जरिए दिल्ली पुलिस दिल्ली के लोगों को सुरक्षा का भरोसा देने में कामयाब होगी। 15 नई प्रखर वाहन के शामिल होने के साथ, प्रत्येक जिले में अब कमजोर खंडों को कवर करने के लिए ऐसी दो वाहन होंगी।


एक दिया वीर सैनिक और शहीदों के नाम

गाजियाबाद! दीपावली के शुभ अवसर पर इंदिरापुरम के शक्ति खंड 3 में एक दिया वीर सैनिकों और शहीदों के नाम कार्यक्रम का आयोजन किया गया!


दीपावली की पूजा के बाद लोगों ने कार्यक्रम स्थल पर आकर एक दिया शहीदों के नाम से जलाया! इस कार्यक्रम का आयोजन भरत राम सेवा दल और रोटरी क्लब आफ रॉयल गाजियाबाद के द्वारा किया गया था! कार्यक्रम में लोगों ने 'भारत माता की जय' के साथ 'वंदे मातरम' के नारे लगाए और साथ लाए हुए दिए को सीमा पर देश की रक्षा करने वाले वीर सैनिकों और शहीदों के सम्मान में समर्पित किया! आपको बता दें कि भरतराम सेवादल दशहरा के अवसर पर भी बच्चों के साथ मिलकर रावण बना चुका है और रामदल निकालकर पारंपरिक तरीके से दशहरा मनाने की शुरुआत कर चुका है! स्थानीय लोग इस तरह के कार्यक्रमों की बड़ी सराहना कर रहे हैं! संस्था के प्रयासों का नतीजा है कि बच्चे अपने आप आसपास पर पौधे लगा रहे हैं और दीया पेंटिंग करके आसपास के लोगों को उन्हे बेचकर आए हुए पैसे से गरीबों की मदद कर रहे हैं!


कार्यक्रम के आयोजन पर एमएलसी कैंडिडेट जितेंद्र कुमार गौर ने खुशी जताई और कहा कि इस तरह के आयोजन लोगों में सेना के प्रति सम्मान की भावना पैदा करते हैं! इस समारोह को सफल बनाने में मीडिया कर्मी सचिन स्वर्णकार, नीलम त्यागी, मेडीलैप के सीईओ और समाजसेवी श्री डीएस बिष्ट ,आईआईएचएस के डायरेक्टर डॉ शरद गोयल  ,एजुकेशनल हब के डायरेक्टर संदीप सिंह ,भजन सिंगर श्रीमती बिंदु सिंह, वरिष्ठ समाजसेवी धर्मवीर ,सचिन जैन, बालाजी सेवा समिति के के पी कश्यप, विजय, राकेश पोद्दार , रुपेश  सत्येंद्र शर्मा ,सुधांशु शर्मा, सुधाकर शर्मा, विश्रांत त्यागी ,कामना, त्रिवेदी ,पूनम यादव ,कीर्ति स्वर्णकार, आदित्य पांडे ,देवेश तिवारी ,रमनदीप सिंह, मनमोहन सिंह और अन्य लोगों ने विशेष भूमिका निभाई! कार्यक्रम के संचालन में पूजा मौर्य, तनु शर्मा, हरीश राजपूत,गोविंद ,विकास,आशीष, सलमान ,नितिन पाराशर ,मीता पोद्दार, अंकित लहरी ,अनूप चौरसिया, सुनील बालियान शंकर बॉस, सचिन अग्रवाल, संजीव श्रीवास्तव ,एडवोकेट कमल सिंह, नितिन त्रिवेदी आर के यादव ,विजय राय ,राहुल झा ,वसीम ,कुलदीप ,दीपक गुप्ता ,कमल और शक्ति खंड 3 के निवासियों ने अहम भूमिका निभाई।


 


बांग्लादेशी क्रिकेट कप्तान 2 साल को बैन

बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन को आईसीसी ने दो साल के लिए किया क्रिकेट से बैन


ढाका! बांग्लादेश के ऑल राउंडर खिलाड़ी शाकिब अल हसन को क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से दो साल के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी की आईसीसी ने बैन कर दिया है। शाकिब ने आईसीसी ऐंटी करप्शन कोड की अवहेलना संबंधी तीन आरोपों को स्वीकार कर लिया, जिसके चलते आईसीसी ने उनकी सजा से एक साल कम कर दिया। शाकिब अब भारत दौरे के लिए भी नहीं जा पाएंगे।


बैन के बाद शाकिब ने कहा कि, '' मुझे काफी दुख हो रहा है कि मुझे क्रिकेट से बैन कर दिया गया है। मुझे ऐसे खेल से बैन किया गया है जिसे मैं सबसे ज्यादा पसंद करता था। मैं अपनी गलती मानता हूं कि मैंने आईसीसी को मैक फिक्सिंग के बारे में जानकारी नहीं दी।आईसीसी बुकी की जानकारी छुपाने को लेकर शाकिब से नाराज था और उसने बीसीबी से कहा था कि वह शाकिब को अभ्यास से दूर रखे। इसके बाद शाकिब के भारत दौरे पर आने को लेकर सवाल खड़े हो गए थे और साथ ही उन पर करीब 18 महीने के प्रतिबंध का भी खतरा मंडरा रहा था।


उल्लेखनीय है कि शाकिब हाल ही में एक एबेसेडर के रूप में ग्रामीणफोन कंपनी से जुड़े थे और बीसीबी के खिलाड़ियों के साथ समझौतों के अनुसार, राष्ट्रीय अनुबंध के तहत आने वाले क्रिकेटर टेलीकॉम कंपनी से नहीं जुड़ सकते।


आतंकियों ने 5 को उतारा मौत के घाट

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में आतंकियों ने की 5 गैर-कश्मीरी मजदूरों की हत्या


कुलगाम! कश्मीर में आतंकियों ने पांच मजदूरों को मौत के घाट उतार दिया है। आतंकियों ने इस नापाक हरकत को कुलगाम में अंजाम दिया। फिलहाल मिली जानकारी से सामने आया है कि ये सभी मजदूर बाहरी थे और कश्मीर में मजदूरी करके अपने परिवार का पालन-पोषण करते थे। इस तरह से जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने के बाद यहां आतंकियों द्वारा मारे गए लोगों की कुल संख्या बढ़कर 11 हो गई है।


घायल मजदूर जहीरुद्दीन, पश्चिम बंगाल से आने वाले एक दिहाड़ी मजदूर हैं, वे अपने कटरासू गांव के घर में थे, जब उन पर हमला हुआ। उन्हें तुरंत ही अस्पताल में भर्ती कराया गया। बताया जा रहा है कि वे खतरे से बाहर हैं। इससे पहले आतंकियों ने एक ट्रक ड्राइवर की हत्या की थी। सोमवार को अनंतनाग के बिजबेहरा में आतंकियों ने इस घटना को अंजाम दिया था। मारे गए ट्रक ड्राइवर ऊधमपुर के निवासी थे।


शिवसेना ने सच्चाई की राजनीति की है

नई दिल्ली! महाराष्ट्र में 50-50 फॉर्मूले की मांग को लेकर अड़ी शिवसेना और उसकी ओर से जारी बयानबाजी से बीजेपी आलाकमान नाराज हो गया है! सूत्रों के हवाले से खबर मिल रही है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 30 अक्टूबर को अब मुंबई नहीं जा रहे हैं जहां उनकी बीजेपी विधायकों के साथ बैठक होनी थी! माना जा रहा था कि अमित शाह पार्टी विधायकों से मुलाकात के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से भी मिलते और फिर मामले को सुलझा लिया जाता! लेकिन शिवसेना की ओर से की जा रही है बयानबाजी के बाद से अब मामला और बिगड़ गया है और महाराष्ट्र में भी बीजेपी के नेताओं का कहना है कि जब तक ऐसी बयानबाजी जारी है शिवसेना से कोई बातचीत नहीं की जानी चाहिए! गौरतलब है कि शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा था कि बीजेपी के साथ 50-50 के फॉर्मूले पर समझौता हुआ था! संजय राउत ने कहा, बीजेपी रामनाम जपती है, तो फिर वह सच बोले और बताए! 50-50 पर समझौता तो पहले ही हो चुका था!' वहीं आज उनसे पूछा गया कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने में देरी क्यों हो रही है तो उन्होंने तंज कसते हुए कहा, 'यहां कोई दुष्यंत नहीं हैं, जिनके पिता जेल में हों! यहां हम हैं, जो 'धर्म और सत्य' की राजनीति करते हैं! शरद जी जिन्होंने बीजेपी और कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनाया है जो कभी बीजेपी के साथ नहीं जाएंगे!' साथ ही कहा, 'उद्धव ठाकरे जी ने कहा है कि हमारे पास अन्य विकल्प भी हैं लेकिन हम उस विकल्प को स्वीकार करने का पाप नहीं करना चाहते हैं! शिवसेना ने हमेशा सच्चाई की राजनीति की है, हम सत्ता के भूखे नहीं हैं!


तांत्रिक के चक्कर में भतीजे की बलि दी

भागलपुर! बिहार के भागलपुर में एक अनोखा मामला सामने आया है, जहां आरोपी ने संताने पाने के लिए अपने भतीजे की नरबलि दे दी! आरोपी शिवनंदन दास ने पूजा-पाठ के साथ कई डॉक्टरों से संपर्क करने के बाद तांत्रिक का सहारा लेना शुरू किया था! तांत्रिक विलास मंडल घर में पूजा-पाठ से लेकर कई तरह के अनुष्ठान लगातार करता रहता था और इसी क्रम में दीपावली की रात अपने खास मासूम की बलि देने की सलाह पर इस तरह के कुकृत्य को अंजाम दिया! जबकि पुलिस ने आरोपी चाचा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है!
यहां हुई ये घटना:-भागलपुर के पीरपैंती में तांत्रिक के चक्कर में चाचा ने अपने ही दस साल के भतीजे की बलि दे दी! घटना पीरपैंती थाना क्षेत्र के श्रीमतपुर हजूरनगर पंचायत के बिनोबा टोले की है! शिवनंदन दास की अपनी कोई संतान नहीं थी, लिहाजा संतान प्राप्ति को लेकर वह तांत्रिक के चक्कर में था! जबकि तांत्रिक के ही कहने पर उसने अपने भतीजे को दीपावली की मध्य रात्रि को बांस के बिट्टी में गला काटकर जमीन में गाड़ दिया था! मृतक दस साल का कन्हैया सिकन्दर दास का पुत्र था और उसका सगा चाचा बीती शाम घर से पटाखे दिलवाने के बहाने घर से बाजार ले गया था!
ऐसे हुआ खुलासा:-आरोपी शिवनंदन दास ने देर रात ही बांस की बिट्टी में गला काटकर तांत्रिक के मुताबिक अनुसार मिट्टी में दफना दिया! सुबह में कन्हैया के नहीं मिलने पर खोजबीन किये जाने पर पीरपैंती थाना पुलिस को मामले की जानकारी दी गयी! इसके बाद मौके पर पीरपैंती थाना पुलिस ने पहुंच कर आरोपी शिवनंदन दास के साथ जब सख्ती दिखायी तो उसने सारा घटनाक्रम उगल दिया! इसके बाद पुलिस ने आरोपी चाचा शिवनंदन दास को गिरफ्तार कर लिया है! जबकि बच्‍चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भागलपुर जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल भेजा है! घटना के बाद से घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल है और तांत्रिक विलास मंडल फरार है! हालांकि पुलिस तांत्रिक की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है!
एसएसपी आशीष भारती ने दिए ये आदेश:-घटना की सूचना के बाद बड़ी संख्या में लोग पीरपैंती थाना सहित गांव में जमा हो गए और 21वीं सदी में अंधविश्वास को लेकर इस तरह के कृत्य पर कई तरह की चर्चाएं शुरू हो गई !स्‍थानीय लोगों के अनुसार नि:संतान के कारण आरोपी शिवनंदन दास पूजा पाठ के साथ कई डॉक्टरों से संपर्क करने के बाद तांत्रिक का सहारा लेना शुरू किया था! एसएसपी आशीष भारती ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पीरपैंती थानाध्यक्ष को ना सिर्फ आरोपी दास बल्‍कि तांत्रिक की गिरफ्तारी के लिए कई निर्देश दिए है!


मठ की साध्वी के साथ सामूहिक दुष्कर्म

शेखपुरा! बिहार के नवादा जिले के ककोलत मार्ग स्थित मठ में रहने वाली एक साध्वी के साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात सामने आई है! यहां साध्वी के साथ 4 लोगों ने दुष्कर्म किया है! पीड़ित साध्वी ने अपने सहयोगियों के साथ शेखपुरा महिला थाना पहुंचकर स्वयं आपबीती सुनाई, जिसके बाद उनके लिखित बयान पर 4 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है!
झांसा देकर उठा ले गए बदमाश:-पीड़ित साध्वी ने बताया कि चारों आरोपी यूपी के रहने वाले हैं! साजिश के तहत इन आरोपियों ने ककोलत मार्ग स्थित कुटिया मठ में आकर कहा कि तुम्हारी मां का राजगीर के पास एक्सीडेंट हो गया है और उनकी तबीयत बेहद खराब है! वह अपनी मां के एक्सीडेंट की खबर से घबरा गई और चारों आरोपियों के साथ उनके साथ लाए वाहन पर सवार हो गईं!
सुनसान जगह में ले जाकर किया गैंगरेप:-बकौल साध्वी इसी बीच चारों आरोपियों ने शेखपुरा जिले के फुलचोड़ गांव के पास गाड़ी रोक दी और वहां उनके साथ गैंगरेप किया! बाद में साध्वी को उसी हाल में छोड़कर भाग गए! पीडि़त साध्वी स्थानीय लोगों की मदद से अपने आश्रम ककोलत वापस लौटी!
गैंगरेप का केस दर्ज किया गया:-इसके बाद पीड़ित साध्वी अपने सहयोगियों के साथ शेखपुरा आकर उसने महिला थाना में शिकायत दर्ज करायी! साध्वी के सहयोगी ने भी घटना के सम्बंध में जानकारी दी! वहीं, महिला थानाध्यक्ष यशोदा कुमारी ने कहा कि केस दर्ज कर लिया गया है और मेडिकल करवाया जा हैै!
मठ से बाहर किए गए थे आरोपी:-घटना के बारे के संबंध में कहा गया है कि आरोपियों में से दो पहले कुटिया में ही रहते थे, लेकिन गलत आचरण के कारण इन्हें बाहर कर दिया गया था! इसी वजह से इनलोगों ने इस घटना को अंजाम दिया है, घटना में एक महिला की भी भूमिका बताई जा रही है!
दो आरोपियों की पहचान की गई:-बहरहाल फिलहाल दो आरोपियों जीवन पटेल व कमलनाथ चौधरी की पहचान कर ली गई है जो यूपी के बस्ती जिले लालगंज थाना के सनरा गांव के रहने वाले हैं! दो अन्य को वह नहीं पहचान सकी है!
पहले भी हुए हैं गैंगरेप के मामले:-बता दें कि दो साल पहले भी इसी आश्रम की तीन साध्वियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया था! इसकी एफआइआर भी नवादा जिले के स्थानीय थाना में दर्ज कराई गई थी!


गांजा तस्करों में चली गोली,1 की मौत

गाजियाबाद । विजयनगर थाना  क्षेत्र अंतर्गत चांदमारी झुग्गी झोपड़ी में सोमवार रात एक गांजा तस्कर की दूसरे गांजा तस्कर ने गोली मारकर हत्या कर दी। हत्याकांड को अंजाम देने के बाद हत्यारोपी फरार हो गया। गोली की आवाज सुनकर युवक के परिजन और आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। गंभीर रूप से घायल युवक को अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। हत्याकांड की जानकारी मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और छानबीन के बाद शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। हत्याकांड के पीछे एक युवती से संबंध और गांजा बिक्री के विवाद का मामला बताया जा रहा है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।


दिल्ली का रहने वाला 20 वर्षीय बिट्टू यहां परिवार के साथ चांदमारी झुग्गी झोपड़ी में रहता था और गांजा बेचने का धंधा करता था। वहीं झुग्गी झोपड़ी में ही रहने वाला वकील भी गांजा बेचता है। सोमवार की रात करीब दस बजे बिट्टू झुग्गी से निकलकर कुछ सामान लेने के लिए जा रहा था। इसी दौरान वहां वकील अपने एक साथी के साथ पहुंचा और तमंचे से बिट्टू के सीने में गोली मार दी। गोली लगने के बाद बिट्टू खून से लथपथ होकर जमीन पर गिर गया और  वकील साथी संग फरार हो गया। गोली की आवाज सुनकर मौके पर पहुंचे बिट्टू के परिजन और आसपास के लोग उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।प्रताप विहार चौकी प्रभारी कविश मलिक ने बताया कि हत्याकांड के पीछे एक युवती से संबंध और गांजा बिक्री का विवाद सामने आ रहा है। इस संबंध में वकील के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। वह फरार है। उसकी तलाश की जा रही है। उसके पकड़े जाने के बाद ही हत्या का कारण स्पष्ट हो सकेगा। उधर हत्याकांड के बाद मृतक के परिजनों में कोहराम मचा है।


जानलेवा हमले में भी वांछित चल रहा है वकील


प्रताप विहार चौकी क्षेत्र में पूर्व में हुए एक जानलेवा हमले के मामले में भी वकील वांछित चल रहा है। जिसकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। बताया गया है कि हत्यारोपी वकील ने बिट्टू को मारने की योजना कई दिन पहले ही बना ली थी जिसके चलते उसने अपनी झुग्गी में रखा सामान समेट कर दूसरी जगह पहुंचा दिया था।


जनपद में 4 नए जन सेवा केंद्र खुलेगे

गाज़ियाबाद। जनपद की चार बड़ी ग्राम पंचायतों में चार जन सेवा केंद्र खोले जाएंगे। सीडीओ के निर्देश पर डीपीआरओ ने इसका प्रस्ताव शासन को भेज दिया है। इन गांवों में जन सेवा केंद्र खुलने पर ग्रामीणों को अपने आय, जाति आदि प्रमाण पत्रों को बनवाने के लिए शहर की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। साथ ही इन जन सेवा केंद्रों में काम करने वाले भी उसी ग्राम पंचायत के निवासी होंगे। ग्रामीणों को आय, जाति, मूल निवास आदि प्रमाण पत्रों को बनवाने के लिए तहसील पर जाना पड़ता है। शहर में जगह-जगह जन सेवा केंद्र खुले हुए हैं। शहर की तर्ज पर ग्रामीण गांवों में भी जन सेवा केंद्र खोलने की मांग कर रहे थे।


हालांकि कुछ गांवों में जन सेवा केंद्र पहले से चल रहे हैं। शासन ने जनपद की उन ग्राम पंचायतों में जन सेवा केंद्र खोलने का प्रस्ताव मांगा था, जिनकी जनसंख्या अधिक है। डीपीआरओ ने इसके लिए रजापुर ब्लॉक के मसूरी व नाहल, भोजपुर ब्लॉक के कलछीना और लोनी ब्लॉक के हकीकतपुर गांव को चिह्नित किया है। इन गांवों में जन सेवा केंद्र खोलने का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेज दिया गया है। ये जन सेवा केंद्र पंचायत भवन में चलेंगे। डीपीआरओ जन सेवा केंद्रों की मॉनीटरिग करेंगे। जनपद में कई गांवों की जनसंख्या बहुत अधिक है। मगर इन गांवों में पंचायत भवन नहीं है। भवन नहीं होने की वजह से इन गांवों को जन सेवा केंद्र के लिए चिह्नित नहीं किया गया। हालांकि पंचायत भवन बनने के बाद इन गांवों में जन सेवा केंद्र खोले जाएंगे।सीडीओ अस्मिता लाल ने बताया कि जन सेवा केंद्र खुलने से ग्रामीणों को काफी फायदा होगा। जनसंख्या के अनुसार शासन को चार गांवों में जन सेवा केंद्र शुरू करने का प्रस्ताव भेजा गया है। इसके बाद अन्य गांवों को भी जन सेवा केंद्र खोलने के लिए चिह्नित किया जाएगा।


नगर-निगम में बनेगी स्मार्ट पार्किंग

गाज़ियाबाद (यूए)। शहर में स्मार्ट पार्किंग बनाई जाएंगी। राज्य स्मार्ट मिशन के तहत इस योजना पर काम शुरू किया जाएगा। ऐसी पार्किंग बनाने के लिए जगह चिह्नित करने के निर्देश दे दिए गए हैं। पिछले दिनों प्रदेश सरकार ने इस मिशन के लिए निगम को 25 करोड़ रुपये दिए थे।


शहर में सामान्य पार्किंग चल रही हैं। दो मल्टीलेवल पार्किंग का संचालन हो रहा है। आधुनिक पार्किंग की व्यवस्था शहर में नहीं है। पिछले दिनों राज्य स्मार्ट सिटी मिशन में शहर को जगह दी गई है। उसकी गाइडलाइन शासन ने जारी की है। उसमें नगर निगम को स्मार्ट पार्किंग बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। निगम अधिकारियों ने इस तरह की पार्किंग बनाने के लिए प्रयास शुरू कर दिए हैं। जगह चिह्नित करने के लिए निर्देश दे दिए गए हैं। अधिकारियों की मानें तो इसके लिए सलाहकार एजेंसी की मदद ली जाएगी।


स्मार्ट पार्किंग में मोटरसाइकिल और कार खड़ी करने के लिए किसी व्यक्ति की जरूरत नहीं होती। एक प्लेटफार्म पर वाहन को खड़ा कर दिया जाता है। ऑपरेटर कमांड देकर वाहन को खड़ा करने की जगह निर्धारित करता है। पार्किंग में लगी ऑटोमेटिक मशीनरी वाहन को निर्धारित लोकेशन पर खड़ा कर देती है। वाहन मालिक को मोबाइल पर ई-पार्किंग स्लिप मिल जाती है। इसी तरह पार्किंग के अंदर से वाहन ऑटोमेटिक बाहर आ जाता है।


पूजा से पहले पत्नी को मारी गोली

एकाशुं उपाध्याय


गाजियाबाद! थाना निवाड़ी क्षेत्र में पति-पत्नी के रिश्ते उस वक्त तार-तार हो गए। जब एक पति ने अपनी पत्नी को ही गोली मार दी। और मौके से फरार हो गया। जैसे ही गोली चलने की आवाज आसपास के लोगों ने सुनी तो लोगों की भीड़ मौके पर जमा हो गई और इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई। सूचना के आधार पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल अवस्था में महिला को अस्पताल पहुंचाया।लेकिन उसकी हालत बिगड़ते देख उसे मेरठ के लिए रेफर कर दिया गया है। जहां उसकी हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। पति के द्वारा पत्नी को गोली मारे जाने का कारण आपसी विवाद माना जा रहा है। फिलहाल आरोपी पति फरार है पुलिस का दावा है। कि जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।


जानकारी के मुताबिक गाजियाबाद के थाना निवाड़ी क्षेत्र के कृष्णा कुंज कॉलोनी में महालक्ष्मी धर्म कांटे के पास एक मकान में करीब 30 वर्षीय पूजा नाम की महिला रहती है।इसका देव कुमार नाम का पति जो कि बीएसएफ से रिटायर्ड है। इसका आपने पति से झगड़ा चल रहा था। जिसके कारण यह अपने पति से पिछले काफी समय से अलग रह रही थी। पूजा के 8 वर्षीय पुत्र ने बताया कि उसकी मम्मी पूजा के पिता गोवर्धन पर करीब शाम 6:00 बजे खाना देकर वापस चल  गए थे। उस वक्त पूजा के पास उसका करीब 8 वर्षीय बेटा भी मौजूद था। इसी दौरान पूजा का पति देव कुमार घर पहुंचा। और पूजा को गोली मार दी ।और मौके से फरार हो गया। जिसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई थी सूचना के आधार पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल अवस्था में जमीन पर पड़ी पूजा को पास के अस्पताल पहुंचाया। लेकिन उसकी हालत बिगड़ते देख उसे मेरठ के लिए रेफर कर दिया गया है। जहां उसकी हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है।


इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए क्षेत्राधिकारी के पी मिश्रा ने बताया कि 30 वर्षीय पूजा नाम की एक महिला थाना निवाड़ी क्षेत्र की कृष्णा कुंज कॉलोनी में अपने 8 वर्षीय बेटे के साथ रह रही थी। उसका अपने पति देव कुमार जो कि बीएसए से रिटायर्ड है। उससे झगड़ा चल रहा था। जिसके कारण यह अपने पति से पिछले काफी समय से अलग रह रही थी। पूजा के 8 वर्षीय बेटे ने पुलिस को पूछताछ के दौरान बताया कि गोवर्धन की शाम कल 6:00 बजे उसके पापा घर आए थे ।और पूजा को गोली मारकर मौके से फरार हो गए क्षेत्राधिकारी ने बताया कि इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को मिली थी। सूचना के आधार पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल अवस्था में पूजा को अस्पताल में भर्ती कराया ।लेकिन उसकी हालत बिगड़ती चली गई ।जिसके बाद उसे मेरठ सुभारती अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसकी हालत अब भी गंभीर बनी हुई है। और आरोपी पति फरार है जिसकी तलाश जारी है। उसे जल्द ही गिरफ्तार कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।


सरकार व प्रशासन के खिलाफ किसान

किसानों की आवाज़ प्रदूषण और सोई हुई सरकार व प्रशासन के खिलाफ 


मोहित श्रीवास्तव
गाजियाबाद! उत्तर प्रदेश आवास विकास परिषद की मंडोला विहार योजना से सम्बंधित अधिकारियो की मिलीभगत से अधिग्रहित जमीन में अवैध मिटटी खनन कराकर गहरे गढ्ढों को अनुपयोगी प्लाष्टिक के कचरे को डम्प कराकर आग के हवाले किया जा रहा है जिसकी वजह से क्षेत्र में वायु प्रदूषण इतना बढ़ गया है कि साँस लेना दूभर हो रहा है! जिसकी शिकायत लोनी SDM से भी की गई और SDM साहब को योजना में डम्प किये गए कचरे को भी दिखाया गया! लेकिन समस्या से निजात नही मिला। मंडोला विहार योजना से प्रभावित 6 गांव के धरनारत किसान जहरीले धुंए फैलाने के लिए आवास विकास परिषद के अधिकारियो को दोषी मान रहे हैं! धरनारत किसानो ने सर्वसम्मति से आवास विकास परिषद के अधिकारियो पर प्रदूषण फैलाने का दोषी ठहराए जाने के बाद उन पर कानूनी कार्यवाही किये जाने व् इलेक्ट्रिक प्लेटो के कचरे को यहां से उठवाने तक कल दिनांक 30 अक्टूबर को कार्यालय की तालाबन्दी करने का निर्णय लिया है। 
क्षेत्र के सभी किसान मजदूर व् अन्य सभी लोग कल धरना स्थल पर ज्यादा से ज्यादा संख्या में उपस्थित रहकर वातावरण को दूषित करने वाले अधिकारियो के खिलाप अपनी आवाज बुलंद करें।


सट्टा संचालक,कथित नेता को भेजा जेल

प्रयागराज! नैनी पुलिस ने सट्टा संचालक के गैंग लीडर बृजेश पण्डे के साथ पुलिस के द्वारा १० सटोरियों को ग्रिफ्तार किया है? पुलिस ने रेल गांव में मुखबिर की सूचना पर दबिश दी गई! जिसमे सट्टा संचालक और सटोरिये रंगे हाथ दबोचे गए!  ध्यान देने योग्य बात ये है कि गैंग लीडर अपने को भाजपा युवा मोर्चा का नेता बताता था और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष से संपर्क बता कर लोगो पर रौब गाठता था! पुलिस की कार्रवाई में सारी नेतागिरी धरी की धरी रह गई! आवश्यक कार्रवाई करते हुए पुलिस के द्वारा आरोपियों को जेल भेज दिया! पुलिस की कार्यवाही में उनकी नेता गिरी नहीं चली।
 रिपोर्ट बृजेश केसरवानी


एविक्शन मे बिगबॉस के घर से सिद्धार्थ बाहर

मुंबई! बिग बॉस 13 में हर दिन नए मोड़ आ रहे हैं। जहां एक तरफ घर के कुछ पुराने सदस्य एक-एक करके बाहर हो रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ शो में नए कंटस्टेंट्स की भी एंट्री होने की तैयारी है। बीच हफ्ते हुए पहले एविक्शन में बिग बॉस के घर से सिद्धार्थ डे बाहर हो गए हैं।घर से निकलने के बाद सिद्धार्थ एक इंटरव्यू में शो के अपने अनुभव को साझा किया।


सिद्धार्थ कहते है मेरा सफर बहुत अच्छा रहा। इस दौरान मुझे पता चला कि जिदंगी में कुछ चीजें जो मुझे करनी चाहिए और कुछ चीजें जो मुझे नहीं करनी चाहिए। हम सिर्फ अपने कामों से ही नहीं सीखते हैं बल्कि कई बार दूसरों के काम से भी सीख जाते हैं कि क्या नहीं करना चाहिए। शो से मैं जब निकला तो मुझे खुशी थी कि मुझे आखिरकार आजादी मिल रही है। ऐसी जगहों पर रहने से काफी तकलीफ होती है। क्योंकि हम अपने घरवालों, दोस्तों और करीबियों की वजह से ही अपने अनुसार बर्ताव कर पाते हैं। लेकिन दुनिया में हर कोई ऐसा नहीं होता है। 


शो से निकलने के बाद मुझे एहसास हुआ कि हमारी जिंदगी में जो अच्छे लोग हैं हमें उन्हें सराखों पर रखना चाहिए। क्योंकि हम अपने लोगों से जिन बातों पर गुस्सा हो जाते हैं असल में वह मुद्दे ही नहीं होते हैं।उन्होंने कहा शुरुआत में तो किसी भी तरह का ग्रुप नहीं था लेकिन फिर बाद में घर के लोग दो हिस्सों में बंट गए। दरअसल जब तीन- चार लोग एक तरफ हो जाते हैं तो बाकी के लोगों को अपनेपन के लिए एक दूसरे में सहारा ढूंढना पड़ता है। 


शेफाली बग्गा से जुड़े सवाल पर सिद्धार्थ कहते है हम दोनों काफी अच्छे दोस्त हैं। मैं लेखक हूं वह पत्रकार हैं, दोनों ही समझदार है और हमें एक दूसरे का साथ अच्छा लगता था इसलिए हम साथ समय बिताते थे। ऐसा नहीं हो सकता है कि आप अचानक घर के अंदर पहली बार मिले और प्यार में पड़ गए हों। घर में हम एक दूसरे की इज्जत करते थे, एक दूसरे को समझते थे और परवाह करते थे।सिद्धार्थ से पूछा गया की उनके अनुसार इस सीजन का विनर कौन हो सकता है? मेरे अनुसार शेफाली, पारस, रश्मि और हां शहनाज भी विनर हो सकती है। अगर शहनाज अपने हिसाब से चले तो वह बहुत आगे तक जा सकती है साथ ही वह टीवी इंडस्ट्री में भी बुलंदियों पर पहुंच सकती है।


कारों के बीच टक्कर, 6 की मौत

इंदौर में दो कारों के बीच टक्कर में छह लोगों की मौत, पांच गंभीर रूप से घायल


इंदौर! मध्यप्रदेश के इंदौर में मंगलवार तड़के तेजाजी नगर थाना इलाके में स्थित रालामंडल के पास दो कारों की भीषण टक्कर हो गई। इस हादसे में छह लोगों की मौत हो गई जबकि पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।


हादसे में मारे जाने वालों में सेना के एक अधिकारी और एक 4 वर्ष का बच्चा भी शामिल हैं। बताया जा रहा है कि टक्कर इतनी तेज हुई थी दोनों कारें बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। टक्कर इतनी जोरदार थी कि दोनों कारें बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गईं। लोगों को मलबे से निकालने में खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा। मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को अस्पताल में भर्ती करवाया। तेजाजी नगर के पुलिस अधिकारी ने बताया कि सुबह छह बजे के करीब रालामंडल चौक के पास यह दुर्घटना हुई जब तेज रफ्तार कारों में से एक के चालक ने अपने पहियों पर नियंत्रण खो दिया। इसके परिणामस्वरूप, दूसरी तरफ से आ रही दूसरी कार और उस चार-पहिया वाहन से टकरा गई। उन्होंने बताया कि दोनों कारें बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गईं।


उन्होंने कहा कि इस हादसे में छह लोगों की मौत हो गई। अधिकारी ने कहा कि मृतकों में चार महीने का लड़का, 35 साल की एक महिला और 30 से 60 साल के बीच उम्र के चार पुरुष शामिल थे। उन्होंने कहा कि घायल हुए छह लोगों को यहां सरकार द्वारा संचालित एम वाई अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


कलश शोभायात्रा में 101 कन्या सामिल

रमेश शंकर झा,
समस्तीपुर। जिले में विभिन्न जगहों पर काली पूजा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर समस्तीपुर प्रखंड के हकीमाबाद पंचायत के टारा टोला में नवयुवक काली पूजा समिति की ओर से कलश शोभा यात्रा का आयोजन किया गया। इस कलश शोभा यात्रा में स्थानीय एक सौ एक कुंवारी कन्याओ सहित बड़ी संख्या में भक्तजन शामिल हुये।इस कलश यात्रा काली पूजा स्थल से निकल कर बूढ़ी गंडक नदी से कलश में जल भरकर परिक्रमा करते हुये वापस पूजा स्थल पहुँचकर स्थापित किया गया।


तदुपरांत काली पूजा समारोह व मेला का विधिवत उद्घाटन स्थानीय विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने फीता काट कर किया। वहीँ कार्यक्रम को उद्घाटन करते हुए स्थानीय विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने कहा की दीपावली तथा काली पूजा के इस पावन व पवित्र पर्व पर हमें यह संकल्प लेना चाहिये कि हम बुराई का परित्याग कर अच्छाई को ग्रहण करेंगे। ऐसा कोई भी कार्य नहीं करेंगे जो दूसरे को बुरा लगे। हम एक-दूसरे के सुख-दु:ख में भागीदारी देगे, प्रेम और मोहब्बत के संदेश को घर-घर पहुंचाकर देश और समाज में सहिष्णुता, एकता और भाईचारे की भावना को विकसित करेंगे। इसी में हमारा, समाज का और देश का व्यापक हित निहित है। इस कार्यक्रम के मौके पर जिला राजद सचिव राकेश यादव, समाजसेवी रामविनोद राय, राम प्रवेश राय, रामकृपाल राय, रंजीत राय, संजय राय सहित इत्यादि लोग उपस्थित थे।


सरकार पर अनोखे राष्ट्रवाद का आरोप

लखनऊ। अनुच्छेद 370 लगभग हटने के बाद से लगातार जम्मू-कश्मीर के हालात का जायजा लेने जा रहे विपक्षी दलों को एयरपोर्ट से ही वापस भेज दिया गया। वही अब केंद्र सरकार ने पहली बार विदेशी सांसदों को वहां जाने देने की अनुमति दी है। जिसके बाद से मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है। इसे लेकर मंगलवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और बसपा सुप्रीमो मायावती ने सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाएं हैं।कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने आज अपने अधिकारिक ट्वीट अकाउंट से ट्वीट कर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कह कि 'कश्मीर में यूरोपियन सांसदों को सैर-सपाटा और हस्तक्षेप की इजाजत, लेकिन भारतीय सांसदों और नेताओं को पहुंचते ही हवाई अड्डे से वापस भेजा गया। बड़ा अनोखा राष्ट्रवाद है यह।'


इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ईयू सांसदों को जम्मू-कश्मीर जाने देने और भारतीय सांसदों पर 'बैन' को लेकर सवाल उठाए थे। राहुल ने ट्वीट किया कि 'यूरोप के सांसदों का जम्मू-कश्मीर दौरे के लिए स्वागत है,  लेकिन भारतीय सांसदों पर प्रतिबंध है और एंट्री नहीं है। इसमें कहीं न कहीं कुछ बहुत गलत है।'दूसरी ओर बसपा सुप्रीमो ने केंद्र सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के बाद वहां की वर्तमान स्थिति के आकलन के लिए यूरोपीय यूनियन के सांसदों को जम्मू-कश्मीर भेजने से पहले भारत सरकार अगर अपने देश के खासकर विपक्षी पार्टियों के सांसदों को वहां जाने की अनुमति दे देती तो यह ज्यादा बेहतर होता।


मालूम हो कि यूरोपीय सांसदों का 23 सदस्यीय दल मंगलवार दोपहर दिल्ली से श्रीनगर पहुंचा। वे श्रीनगर में कई स्थानों पर जाएंगे। दरअसल, यह दुनिया को कश्मीर की सच्चाई से रूबरू कराने की भारत की पहल है, जिसको लेकर पाकिस्तान झूठी खबरें फैला रहा है। यूरोपीय संघ की संसद में भी कश्मीर पर चर्चा हुई थी। ऐसे में वहां के सांसदों के कश्मीर का हाल देखने से दुनिया को सच्चाई पता चलेगी।


बता दें कि कश्‍मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्‍छेद 370 के प्रावधानों को हटाए जाने के बाद यह किसी विदेशी प्रतिनिधिमंडल की पहली कश्मीर यात्रा है। कश्मीर दौरे पर जाने वाले इस दल के सदस्य और वेल्स से यूरोपियन संसद के सदस्य नाथन गिल ने उम्मीद जताई कि इस दौरे से जमीनी हालत जानने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा, 'यह हमारे लिए एक शानदार मौका है जब हम विदेश प्रतिनिधि के तौर पर कश्मीर जाकर हालात का जायजा लेंगे और जमीनी हकीकत को खुद देखेंगे।'


योगी का प्रीपेड मीटर लगाने का निर्णय

लखनऊ। योगी सरकार ने बिजली चोरी रोकने और बकाया वसूलने के लिए अब पूरी तरह से मन बना लिया है। इस संबंध में प्रदेश के ऊर्जा एवं अतिरिक्‍त ऊर्जा स्रोत मंत्री श्रीकांत शर्मा ने मंगलवार को कहा कि राजनेताओं और अधिकारियों के बिजली का बिल चुकाने के मामले में रिकॉर्ड बुहत खराब है, जिसे देखते हुए राज्य में नेताओं और सरकारी अधिकारियों के सरकारी आवास पर प्रीपेड मीटर लगाने का फैसला किया गया है।


उन्होंने बताया कि इसके लिए एक लाख प्रीपेड मीटर के ऑर्डर दे दिए गए हैं। जैसे-जैसे ये मीटर आते जाएंगे, सरकारी आवासों में लगते जाएंगे। सभी प्रतिष्ठित व्यक्तियों से भी अपने यहां प्रीपेड मीटर लगाने की अपील की जाएगी। ऊर्जा मंत्री ने यह भी बताया कि उत्तर प्रदेश में सरकारी विभागों और आधिकारिक आवासों पर करीब 13,000 करोड़ रुपये का भुगतान बकाया है। इसकी वसूली के लिए राज्य सरकार ने किस्तों में भुगतान का विकल्प दिया है!


वहीं बिजली चोरी रोकने के प्रयासों का जिक्र करते हुए श्रीकांत शर्मा ने बताया कि प्रदेश में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए पांचों डिस्कॉम के तहत 75 थाने खोले जा रहे हैं। इसके लिए सरकार ने 2,050 पदों का सृजन किया है। अब तक 68 थाने खुल चुके हैं। इनमें तैनात पुलिसकर्मियों के लिए वेतन और दूसरे खर्चों का भार पावर कॉरपोरेशन खुद उठाएगा। बिजली विभाग के अधिकारियों से बोले ऊर्जा मंत्री, ईमानदार उपभोक्‍ताओं को न बनाएं बलि का बकरा, अयोध्‍या, मऊ, आजमगढ़-गोरखपुर समेत इन जिलों के लिए दिए खास निर्देश!


उन्होंने यह भी बताया कि इन थानों के लिए 75 निरीक्षक, 375 उपनिरीक्षक, 675 मुख्य आरक्षी, 150 मुख्य आरक्षी कंसोल ऑपरेटर और 675 सिपाहियों के पद मंजूर किए गए हैं। इन थानों में तैनात पुलिसकर्मियों और अन्य कर्मचारियों का काम जिले के हर इलाके में बिजली चोरी को रोकना है।


आतंकी हिट लिस्ट में मोदी और कोहली

नई दिल्ली। देशभर की कई बड़ी हस्तियां आतंकियों के निशाने पर हैं। इसका खुलासा राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के एक खुफिया दस्तावेज में हुआ है।  यह लिस्ट ऑल इंडिया लश्कर ए तैयबा ने तैयार की है। इसमें देश की 12 बड़ी हस्तियों के नाम हैं, जिनकी जान को खतरा हो सकता है। सबसे चौंकाने वाला नाम टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का है।' आतंकियों के निशाने पर टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और प्रधानमंत्री मोदी का नाम है! ऑल इंडिया लश्कर-ए-तैयबा नाम की आतंकी संगठन देश में बड़े आतंकी हमले की साजिश रच रहा है! इस संगठन के निशाने पर पीएम मोदी और टीम इंडिया कप्तान विराट कोहली के अलावा कई अन्य बड़ी हस्तियां हैं!


लिस्ट में सबसे ऊपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम है। इसके बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह हैं। साथ ही जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक भी आतंकियों के निशाने पर हैं। बता दें, जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाए जाने का पूरा काम सत्यपाल मलिक की देखरेख में हुआ है।'


ऑल इंडिया लश्कर-ए-तैयबा नाम के इस संगठन ने एक हिटलिस्ट तैयार की है जो NIA को भेजी गई है. इस लिस्ट में प्रधानमंत्री मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, सरसंघ संचालक मोहन भागवत, राष्ट्रपति कोविंद, बीजेपी कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक, बीजेपी महासचिव राममाधव, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवानी और टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का नाम है! इन लोगों को इस आतंकी संगठन ने हिटलिस्ट में रखा है!



शिवसेना ने भाजपा को जमीन दिखाइ

मुंबई। महाराष्ट्र के चुनाव नतीजे आने के बाद से अब तक 5 दिन बीत चुके हैं, लेकिन सरकार गठन को लेकर अब तक तस्वीर साफ नहीं हो सकी है। चुनाव से पहले गठबंधन में लड़े बीजेपी और शिवसेना नतीजों के बाद सीएम पद को लेकर रस्साकशी में जुटे हैं। इस बीच ढाई-ढाई साल के सीएम के लिए अड़ी शिवसेना ने अपने तेवर और कड़े कर लिए हैं। शिवसेना के सीनियर लीडर संजय राउत ने बीजेपी पर तीखा तंज करते हुए कहा, 'यहां कोई दुष्यंत नहीं है, जिसके पिता जेल में हैं। यहां हम हैं जो धर्म और सत्य की राजनीति करते हैं।'


संजय राउत ने कहा, 'उद्धव ठाकरे जी ने कहा है कि हमारे पास अन्य विकल्प भी हैं, लेकिन हम उस विकल्प को स्वीकार करने का पाप नहीं करना चाहते हैं! शिवसेना ने हमेशा सच्चाई की राजनीति की है, हम सत्ता के भूखे नहीं हैं!'संजय राउत से जब पूछा गया कि बीजेपी के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन के बावजूद सरकार बनाने में समय क्यों लग रहा है, तो उन्होंने कहा कि यहां कोई दुष्यंत नहीं है जिनके पिता जेल में हैं! संजय राउत ने कहा, 'यहां हम हैं जो 'धर्म और सत्य' की राजनीति करते हैं, शरद पवार जिन्होंने बीजेपी और कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनाया है जो कभी बीजेपी के साथ नहीं जाएंगे!


संजय राउत ने कहा कि लोकतंत्र में कोई भी व्यक्ति विभिन्न विकल्पों को चुन सकता है! हम गठबंधन की नैतिकता का पालन कर रहे हैं! यदि कोई इसका पालन नहीं करना चाहता है तो राज्य की जनता उन्हें जवाब देगी! हमारे पास अन्य विकल्प भी हैं, लेकिन हम उसे स्वीकार नहीं कर रहे हैं! यह पाप है! शिवसेना ने हमेशा सच्ची राजनीति की है! शिवसेना सांसद ने कहा कि हम सत्ता के भूखे नहीं हैं! हम उन पार्टियों के साथ नहीं जा सकते हैं जिन्होंने हमारे खिलाफ चुनाव लड़ाा! यह हमारे लिए सम्मान की बात है कि कोई हमें सत्ता से दूर रखना चाहता है!


अट्ठारह को कार्यभार संभालेंगे बोबड़े

नई दिल्ली! देश के सर्वोच्च न्यायालय के अगल चीफ जस्टिस अरविंद बोबड़े होंगे। मौजूदा मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं। अरविंद बोबड़े 18 नवंबर को मुख्य न्यायाधीश का पदभार संभालेंगे। उनका कार्यकाल 23 अप्रैल 2021 तक होगा। आपको बता दें कि मुख्य न्यायाधीश ने केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को पत्र लिख जस्टिस बोबड़े को अगला मुख्य न्यायाधीश बनाए जाने का प्रस्ताव रखा था जिसपर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हस्ताक्षर कर दिए हैं।


जस्टिस बोबड़े मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय में 1 साल तक चीफ जस्टिस रह चुके हैं। इसके अलावा 12 वर्ष तक बॉम्बे हाइकोर्ट में जज भी रहे हैं। इस दौरान उन्होंने आधार, पर्यावरण और धर्म से जुड़ी कई मामलों में फैसले सुनाया है।


अयोध्या जमीन विवाद मामले की सुनवाई करने वाले पांच जजों की पीठ में जस्टिस बोबड़े भी शामिल हैं। वह आधार के अधिकार पर सुनाए गए तीन बेंच के जजों का  हिस्सा रहे हैं। तीन सदस्यों की इस पीठ में जस्टिस बोबड़े के अलावा जस्टिस चेलमेश्वर और जस्टिस नागप्पन भी थे। इस ऐतिहासिक फैसले में पीठ ने आधार के बिना किसी भी भारतीय को उसके मौलिक अधिकारों से वंचित न किए जाने का फैसला सुनाया।


2016 में दिल्ली-एनसीआर में तीन विद्यार्थियों द्वारा दाखिल की गई याचिका पर भी जस्टिस बोबड़े ने फैसला सुनाया था जिसमें पटाखों की बिक्री पर रोक लगाने की मांग की गई थी। इस बेंच में जस्टिस बोबड़े के अलावा जस्टिस टीएस ठाकुर और जस्टिस एके सिकरी भी थे।


यूरोपीय संघ प्रतिनिधि मंडल का दौरा

नई दिल्ली! सोमवार को यूरोपीय संघ (ईयू) का 21 सदस्यीय संसदीय प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल से मुलाकात की!


यह प्रतिनिधिमंडल 29 अक्‍टूबर को कश्‍मीर दौरे पर जा रहा है! आज 11 बजे ये कश्‍मीर पहुंचेगा! आर्टिकल 370 खत्‍म होने के बाद ये ये किसी विदेशी प्रतिनिधिमंडल का पहला दौरा है!


यह दौरा ऐसे समय में हो रहा है, जब अमेरिका व कई अन्य देशों में कश्मीर को दिए गए विशेष राज्य के दर्जे को समाप्त करने के बाद वहां के हालात पर चिंता जताई जा रही है! यह अनुच्छेद 370 के रद्द होने के बाद किसी विदेशी दल का पहला कश्मीर दौरा होगा! नई दिल्ली स्थित यूरोपीय संघ की शाखा ने कहा है कि 'यह उसका कोई आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल नहीं है!'पीएम मोदी ने प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों से मुलाकात के दौरान पाकिस्तान की तरफ स्पष्ट इशारा करते हुए कहा कि उन देशों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने की जरूरत है, जो आतंकवाद को राज्य की नीति के तौर पर इस्तेमाल करते हैं! माना जा रहा है कि मोदी ने यह बात कर टीम के कश्मीर दौरे की 'टोन' तय कर दी है! मोदी ने उम्मीद जताई कि सदस्य क्षेत्र की एक 'बेहतर समझ' और वहां के लिए सरकार की विकास की नीतियों की 'एक स्पष्ट तस्वीर' हासिल कर सकेंगे!


बैंकिंग में 5 डे टाइम टेबल लागू

नई दिल्ली! बैंकों में अब सभी शनिवार और रविवार छुट्टी रहेगी! हालांकि, अभी यह सिर्फ प्रस्ताव है! लेकिन, अगर यह हकीकत बनता है तो बैंकर्स को जल्‍द अपने हेक्टिक शेड्यूल से राहत मिल सकती है!


मीडिया रिपोर्ट में दावा है कि बैंकों में भी 5 डे वीक का टाइमटेबल लागू हो सकता है! शनिवार और रविवार को बैंक बंद रहेंगे! मौजूदा समय में बैंक महीने के सभी रविवार के अलावा दूसरे व चौथे शनिवार को बंद रहते हैं! यही नहीं बैंक कर्मचारियों की सैलरी में भी जल्द इजाफा हो सकता है! जी बिजनेस में प्रकाशित खबर के अनुसार फाइनेंस मिनिस्‍ट्री में बैंकों में पांच कार्य दिवस लागू करने पर विचार चल रहा है!


मिनिस्‍ट्री ने बैंकों की एसोसिएशन इंडियन बैंक्स असोसिएशन (IBA) से कहा है कि वह बैंकर्स से बात कर उनकी मांगों को समझे और उस पर अपनी राय दे! सूत्रों के मुताबिक, यह बैठक नवंबर में होगी! इस संबंध में हाल में एक बैठक हुई थी! इसमें फाइनेंस मिनिस्‍ट्री को अपना स्‍टैंड क्‍लीयर करना था! सबकुछ ठीक रहा तो बैंकर्स और सरकार के बीच समझौता हो सकता है!


बैंकर्स की डिमांड
1. सैलरी में रिवीजन की मांग:-बैंकरों को भी केंद्रीय कर्मचारियों को मिल रहा 7वां वेतन आयोग चाहिए! कर्मचारी सैलरी में 14% बढ़ोतरी चाहते हैं!


2. GST हटाने की मांग:-सीनियर सिटीजन का ग्रुप हेल्‍थ इंश्‍योरेंस प्रीमियम पर GST हटे! करीब 1.5 लाख रिटायर बैंकर इसका लाभ ले रहे हैं!


3. पेंशन बढ़ाने पर जोर:-PSU बैंक के कर्मचारी पेंशन बढ़ाने की भी मांग कर रहे हैंं! आरोप है कि कर्मचारियों की पेंशन 1996 से नहीं बढ़ी है!


4. मर्जर का विरोध:-बैंक यूनियन बड़े बैंकों में छोटे बैंकों के विलय का भी विरोध कर रही हैंं! आपको बता दे कि बैंक कर्मचारी केंद्र में 7वां वेतन आयोग लगने के बाद से ही सैलरी बढ़ाने की मांग कर रहे हैं! IBA ने सैलरी में 2% बढ़ोतरी की बात कही थी, जिसे बैंक यूनियन ने ठुकरा दिया. वे 25% सैलरी हाइक की मांग कर रहे थे, लेकिन अब 14% बढ़ोतरी की डिमांड कर रहे हैं!


तटीय प्रदेशों में बारिश की संभावना

चेन्नई! बारिश खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है और दक्षिण भारत में भारी बारिश के कारण लोग अब परेशान हो गए हैं! बीते 24 घंटों के दौरान दक्षिणी कोंकण गोवा, तटीय कर्नाटक और उत्तरी केरल में भारी से अति भारी बारिश रिकॉर्ड की गई है तो अब आज भारतीय मौसम विभाग ने तमिलनाडु, केरल , कर्नाटक और लक्षद्वीप समेत कई इलाकों में जोरदार बारिश की चेतावनी दे दी है! इसी के साथ उन्होंने लोगों को सचेत कर दिया है! जी दरअसल इन राज्यों में लगातार हो रही बारिश से आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हो गया है, लोगों को बहुत सी परेशानिया हो रहीं हैं!


वहीं स्काईमेट ने भी कहा था कि ”चेन्नई सहित तटीय तमिलनाडु और केरल के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है, जबकि गुजरात में हल्की बारिश ओर आंध्र प्रदेश के रायलसीमा क्षेत्र में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है, जबकि तेलंगाना, आंतरिक महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, ओडिशा, झारखंड में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर मध्यम बारिश हो सकती है!” इसी के साथ बताया गया है कि आज छिंदवाड़ा, अमरवाड़ा, बुरहानपुर, बुधनी, इंदौर, महू, सिवनी, मंडला, धार, मलाजखंड, खरगोन, नरसिंहपुर, खंडवा, होशंगाबाद, पचमढ़ी, बैतूल में बारिश की आशंका है, क्योंकि लगातार बादल छाए रहने से भोपाल समेत इन स्थानों पर दिन का तापमान सामान्य से पांच डिग्री तक कम बना हुआ है और इसी कारण से दिन में भी ठंडक का अहसास होने लगा है!


वहीं विभाग ने पहले यह भी कहा था कि, ”विदाई से पहले मॉनसून दक्षिण भारत में एक बार फिर से कोहराम मचा सकता है, स्काई मेट ने भी लोगों को चेतावनी दी थी अगले दो-तीन दिन कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में भारी रहने वाले हैं और तेज बारिश होने की आशंका जताई है!


बोरवेल में बच्चे ने चौथे दिन दम तोड़ा

तमिलनाडु! नादुकट्टपट्टी, तिरुचिरापल्ली में 2-वर्षीय सुजीत विल्सन 25 अक्टूबर को बोरवेल में गिरने के बाद उसे सुरक्षित बाहर निकालने के लिए शासन-प्रशासन के द्वारा सभी संभव उपाय किए गए!


व्शसन के विभिन्न मंत्री व् अधिकारी इस घटना की पल-पल जानकारी लेते रहे पर सुजीत विल्सन को सकुशल बाहर नही निकाला जा सका जहां 2 वर्षीय सुजीत विल्सन को बोरवेल में फंसे हुए 52 घंटे से अधिक समय हो गया है!


25 अक्टूबर को एक बोरवेल में गिरने के बाद 2-वर्षीय सुजीत विल्सन नेअपनी जान गंवा दी, उसके शव को नादुकट्टुपट्टी स्थित उनके निवास पर ले जाया गया! प्रमुख सचिव, परिवहन विभाग के जे राधाकृष्णन का कहना है कि सुजीत विल्सन का शरीर अब विघटित अवस्था में है! हमने उसे बचाने की पूरी कोशिश की लेकिन दुर्भाग्य से बोरवेल से दुर्गंध आने लगी है जिसमें बच्चा गिर गया था! फिलहाल, खुदाई प्रक्रिया बंद कर दी गई है।


पीएम मोदी की सऊदी यात्रा महत्वपूर्ण

नई दिल्ली! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सऊदी अरब में फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव (FII) के तीसरे संस्करण में शामिल होंगे! यह 29 से 31 अक्टूबर तक आयोजित हो रहा है! यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सऊदी अरब की दूसरी यात्रा है, जिसमें वह अन्य कूटनीतिक रिश्तों के साथ ही निवेश और आर्थिक विकास को गति देने की संभावनाओं को भी तलाशेंगे! क्या है कारोबार-निवेश कार्यक्रम FII और क्यों है महत्वपूर्ण? आइए जानते हैं! फ्यूचर इनवेस्टमेंट इनिशिएटिव सऊदी अरब के रियाद शहर में आयोजित होने वाला एक सालाना निवेश मंच है! इसमें वैश्विक अर्थव्यवस्था और निवेश वातावरण के ट्रेंड पर चर्चा होती है! इसका आयोजन सऊदी अरब के पब्लिक इनवेस्टमेंट फंड (PIF) द्वारा किया जाता है! इसकी प्रतिष्ठा की वजह से इसे 'रेगिस्तान का दावोस' भी कहते हैं! गौरतलब है कि स्व‍िट्जरलैंड के शहर दावोस में दुनिया के सबसे बड़े इकोनॉमी-बिजनेस के कार्यक्रम वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम का आयोजन किया जाता है! पब्लिक इनवेस्टमेंट फंड सऊदी अरब का मुख्य सॉवरेन यानी सरकारी वेल्थ फंड है, जिसको आर्थ‍िक एवं सामाजिक सुधार कार्यक्रम के सऊदी विजन 2030 के परिप्रेक्ष्य में तैयार किया गया है!


भारत के लिए क्यों है महत्वपूर्ण
फाइव ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी बनने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य रखने वाले भारत के लिए भी यह आयोजन काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि दुनिया के प्रमुख निवेशकों के सामने अपने यहां बन रहे अवसरों के बारे में बताने का मौका मिलेगा! पीएम मोदी मंगलवार शाम को इस कार्यक्रम के मुख्य वक्ता होंगे! कॉन्फ्रेंस में अपने संबोधन के बाद वह मॉडरेटर के साथ संवाद भी करेंगे! सऊदी अरब के लिए रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने कहा था कि वह इस मंच में वैश्विक निवेशकों के लिए भारत में बढ़ते व्यापार और निवेश के अवसरों के बारे में बताएंगे और उन्हें यह भी बताएंगे कि किस तरह से भारत 2024 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने जा रहा है! इस कार्यक्रम में रिलायंस समूह के चेयरमैन मुकेश अंबानी सहित कई दिग्गज भारतीय कारोबारी भी शामिल हो सकते हैं!


क्या है इस बार की थीम
इस सालाना निवेश कार्यक्रम का इस बार की थीम है-'व्हाट इज नेक्स्ट फॉर ग्लोबल बिजनेस' यानी वैश्विक कारोबार में आगे क्या होगा! सऊदी अरब के पब्लिक इनवेस्टमेंट फंड द्वारा आयोजित यह कार्यक्रम एक उच्च स्तरीय प्लेटफॉर्म है जिसमें सऊदी अरब के नीति-नियंताओं और वैश्विक कारोबारी प्रतिनिधियों से मिलने का मौका मिलता है!


इसका पहला आयोजन अक्टूबर 2017 में हुआ था और तब NEOM को लॉन्च किया गया था, जो कि सऊदी अरब के उत्तर-पश्चिम में 500 अरब डॉलर के निवेश के साथ बनने वाला स्वतंत्र आर्थ‍िक क्षेत्र था. इसका दूसरा सालाना आयोजन 23 से 25 अक्टूबर 2018 में किया गया! इस साल का आयोजन 29 से 31 अक्टूबर तक हो रहा है. इसमें दुनिया भर के इंडस्ट्री जगत के अगुआ, नीति-नियंता, एक्सपर्ट, निवेशक शामिल होते हैं और इस बात की चर्चा करते हैं कि किस तरह से वैश्विक समृद्धि और विकास को संभव बनाया जा सकता है!


किन विषयों पर होगी चर्चा
कारोबार और निवेश के मुख्य कार्यक्रम के अलावा एफआईआई में तीन अन्य समिट भी होंगे, जिनमें इस बात पर विचार होगा कि कारोबार, मनोरंजन और समाज में बदलाव किस तरह से इनोवेशन को बढ़ावा दे रहे हैं और निवेश के अवसर तैयार कर रहे हैं! इस बार ऐसे पहले समिट में टेक्नोलॉजी, जनसांख्यिकी और कारोबारी मॉडल में नए विकास से कार्य की प्रकृति में बदलाव आ रहा है! दूसरा समिट इंटरैक्टिव एंटरटेनमेंट पर फोकस होगा और इस बात का परीक्षण किया जाएगा कि इनोवेशन, ग्लोबलाइजेशन और कंज्यूमर बिहेवियर से किस तरह से खेल, मनोरंजन और लीशर की दुनिया प्रभावित हो रही है!


तीसरे समिट में इस बात पर विचार होगा कि किस तरह से दुनिया भर की इंटरकनेक्टेड सोसाइटी और सरकारें इंटेलीजेंट सिस्टम, एडवांस मोबिलिटी, नए एजुकेशन मॉडल और शहरों एवं समुदायों में ज्यादा से ज्यादा सांस्कृतिक जागरूकता को अपनाने की कोशिश कर रही हैं! पिछले साल FII के दौरान करीब 60 अरब डॉलर के समझौते हुए थे, जिनमें ऊर्जा, हाउसिंग, हेल्थकेयर और आईसीटी जैसे सेक्टर में बड़ी निवेश घोषणाएं शामिल थीं! इसके पहले पीएम मोदी साल 2016 में रियाद गए थे, तब उन्हें सऊदी अरब का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया गया था!


हरियाणा चुनाव की समीक्षा करेगी भाजपा

नई दिल्ली! बीजेपी ने 2014 के विधानसभा चुनाव में 47 सीटें जीतकर पहली बार बहुमत से राज्य में सरकार बनाई! तब पार्टी ने गैर जाट चेहरे और पहली बार विधायक बने मनोहर लाल खट्टर को मुख्यमंत्री चुनकर सबको हैरान कर दिया!


इस बार चुनाव में बहुमत के आंकड़े 46 से बीजेपी को छह सीटें कम यानी 40 सीटें मिलीं! जबकि बीजेपी ने चुनाव के दौरान कुल 90 में 75 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य तय किया! बहुमत से चूक जाने के बाद बीजेपी को इस बार जेजेपी के साथ गठबंधन कर सरकार बनानी पड़ी है! इसी कड़ी में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) हरियाणा में कुल 90 में से 50 विधानसभा सीटों पर हुई हार की क्षेत्रवार समीक्षा करेगी! राज्य में सात मंत्रियों की हार और बीजेपी के पांच बागियों के निर्दल चुनाव जीतने से भी पार्टी हैरान है!


पार्टी को लगता है कि कई सीटों पर टिकट वितरण में चूक हुई है, नहीं तो नतीजे 2014 की तरह होते! बीजेपी की जांच के केंद्रबिंदु में 'इलेक्शन मैनेजमेंट' भी है! बीजेपी के भरोसेमंद सूत्रों ने बताया कि पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का मानना है कि हरियाणा में इलेक्शन मैनेजमेंट में भी कुछ चूक हुई!टिकट के दावेदार उम्मीदवारों के बारे में जानकारियां जुटाकर बनाई गई रिपोर्ट भी ठीक नहीं रही! इससे कई सीटों पर योग्य उम्मीदवारों को नजरअंदाज कर कमजोर प्रत्याशियों को टिकट मिला!


गाजियाबाद की पेपर रोल फैक्ट्री में आग

गाजियाबाद में पेपर रोल फैक्ट्री में भीषण आग


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद! साहिबाबाद इंड्रस्ट्रियल इलाके में भीषण आग लग गई है! आग एक पेपर रोल फैक्ट्री में लगी है, जिसमें लाखों की संपत्ति जलकर राख होने की आशंका है! आग को बुझाने के लिए दमलकल की कई गाड़ियां मौके पर पहुंच गई हैं! दमकल विभाग लगातार आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है. पेपर रोल रखे जाने की वजह से आग बुझाने में मुश्किलें आ रही हैं! आग इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि नोएडा से दमकल विभाग की गाड़ियां बुलाई जा रही हैं!


गाजियाबाद में आग के लिहाज से संवेदनशील इलाका है! गाजियाबाद स्थित सेल्स टैक्स ऑफिस की तीसरी मंजिल में 20 जुलाई को भयंकर आग लग गई थी! बताया जा रहा है कि आग लगने से ऑफिस स्थित खण्ड 15 व 16 के महत्वपूर्ण रिकॉर्ड जल गए! सेल्स टैक्स ऑफिस के पास ही जिलाधिकारी कार्यालय है. आग लगने के बाद भगदड़ मच गई! आग की लपटे निकलती देख आनन-फानन में लोगों ने स्थानीय पुलिस और दमकल विभाग को सूचित किया! सूचना पर मौके पर पहुंची दमकल विभाग की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया! हालांकि, तब तक सेल्स टैक्स विभाग के खंड 15 और 16 के रिकॉर्ड जलकर राख हो गए थे!


बता दें कि आग लगने के कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है! पुलिस आग लगने के कारणों की जांच कर रही है! वहीं, सेल्स टैक्स ऑफिस में आग लगने से कई सवालिया निशान उठने शुरू हो गए हैं! साथ ही विभाग में आग से बचाव के इंतजामों को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं!


रुका हुआ धन प्राप्त हो सकता है:कन्या

राशिफल


मेष:चंद्रमा का संचार आज देर रात तक शुक्र की राशि तुला में होगा। इस राशि से जाते हुए चंद्रमा अक्टूबर के अंतिम मंगलवार को कई राशियों के लिए मंगलकारी बना रहा है। आज आपका दिन कैसा रहने वाला है!


मेष:राशि वाले आज काफी सक्रिय रहेंगे। कार्यक्षेत्र में प्रगति होगी। दिन आनंद पूर्वक बीतेगा। मान-सम्मान में वृद्धि होगी। जीवनसाथी से पूर्ण सहयोग मिलेगा। शुभ चिंतकों की सलाह पर ध्यान देना चाहिए। सलाह है कि अति उत्साह में सेहत की अनदेखी ना करें।


वृषभ:सगे संबंधियों से मुलाकात हो सकती है। दिन उत्सव और आनंद में बीतेगा। शत्रुओं पर विजय कर पाएंगे। अधूरे कार्य संपन्न होंगे। कोई शुभ सूचना मन को प्रसन्न रखेगी। वैवाहिक जीवन में काफी रोमांटिक नजर आएंगे। बच्चों से खुशी मिलेगी।


मिथुन:आज साहित्य एवं कला में आपकी रुचि रहेगी। लेखक और कलाकार को अपने क्षेत्र में कुछ अलग और बेहतर कर सकते हैं। मन में कल्पना की तरंगे उठेंगी। रोमांटिक मूड में रहेंगे। लोगों से विभिन्न विषयों पर चर्चा होगी। आपका सम्मान और महत्व बढ़ेगा। 


कर्क:मन अशांत रहेगा। आपकी मनःस्थिति नकारात्मकता की ओर प्रेरित करेगी। मन में उलटे-सीधे विचार आएंगे। परिवार में आपसी तालमेल और सहयोग का अभाव हो सकता है। मन को सबल रखें। हो सके तो आज कम बोलें और ज्यादा सुनें। 


सिंह:नींद अच्छी आएगी। मानसिक रूप से आज आप बहुत हल्कापन महसूस करेंगे। आपके मन पर छाए हुए चिंता के बादल हटने से आपके उत्साह में वृद्धि होगी। शॉपिंग कर सकते हैं, अपनों से मेल-मुलाकात होगी। यात्रा का योग है।


कन्या:स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। आज रुका हुआ धन आपको प्राप्त हो सकता है। धन निवेश के लिए दिन लाभकारी है। स्वयं पर विश्वास रखकर ही आज कार्यों को क्रियान्वित करें। खान-पान के मामले में संयम रखें। सामाजिक जीवन में सक्रिय रह सकते हैं। यात्रा हो सकती है। 


तुला:आज आपका दिन अनुकूल रहेगा। बीमार लोगों की सेहत में सुधार होगा। सुबह से ही आप सक्रिय रहेंगे और काम को समय पर पूरा कर लेंगे। पारिवारिक जीवन में प्रेम और आपसी सहयोग बढ़ेगा। दोपहर के बाद अधिक आनंदित और उत्साहित रहेंगे। यात्रा हो सकती है।


वृश्चिक:स्वास्थ्य आज नरम रह सकता है। सुस्ती रहेगी खान-पान का ध्यान रखें। दूसरों के मामले में हस्तक्षेप से बचें क्योंकि आज किसी का भला करने के चक्कर में आप खुद परेशानी में आ सकते हैं। पैसों की लेन-देन से दूर रहें। 


धनु:दिन विशेष लाभदायी है। निवेश, व्यापार, नौकरी, शिक्षा सभी क्षेत्रों में आज लाभ के संकेत हैं। सभी कार्य समय से पूरे होंगे। धर्म-कर्म में रुचि रहेगी। मान-प्रतिष्ठा का लाभ मिलेगा। मित्रों और शुभचिंतकों से संवाद होगा, कोई अच्छी खबर मिलेगी!


मकर:आप आज हर काम सरलता से संपन्न कर पाएंगे। नौकरी में आपके उच्च अधिकारी खुश रहेंगे। कार्य की व्यस्तता रहेगी एवं स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। पारिवारिक जीवन भी आज आनंद में बीतेगा। कोई उपहार भी मिल सकता है। 


कुंभ:भाग्य का साथ मिलेगा। पूर्वनिर्धारित कार्यों को पूरा करने में सफल होंगे। धार्मिक एवं मांगलिक कार्यो में व्यस्त रहेंगे। परिवार संग खान-पान का आयोजन हो सकता है। मित्रों और सहकर्मियों के सहयोग से मिलेगा। 


मीन:आज का दिन संयम और शांति से गुजारें। किसी नए काम को शुरू करने के लिए दिन उचित नहीं है। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। वाहन सावधानीपूर्वक चलाएं। दूसरों के मामलों से दूर रहना बेहतर होगा। कार्यक्षेत्र में स्थिति सामान्य रहेगी।


क्या विलुप्त हो जाएगा भघीरा

जगुआर बिल्ली परिवार का तीसरा सबसे बड़ा सदस्य है। केवल सिंह और बाघ उससे बड़े होते हैं। लेकिन इस छोटे पैरोंवाले गठीले जानवार में सिंह या बाघ से भी अधिक ताकत होती है। वह अपने बड़े-बड़े रदनक दंतों और मजबूत जबड़ों से कठोर-से-कठोर हड्डी को भी काट सकता है और कछुओं की मोटी-से-मोटी खोल को भी भेद सकता है।


जगुआर मध्य एवं दक्षिण अमरीका के वर्षावनों और दलदली मैदानों में रहता है। पहले वह पूरे उत्तरी अमरीका के गरम इलाकों में भी पाया जाता था, लेकिन अब वह उत्तरी अमरीका में केवल मेक्सिको के कुछ भागों में मिलता है।


एक वयस्क जगुआर 2 मीटर (7 फुट से अधिक) लंबा, 60 सेंटीमीटर (2 फुट) ऊंचा और 100 किलो भारी होता है। उसकी खाल चमकीली पीली होती है, जिस पर चिकत्तियों के बड़े-बड़े गोल निशान बने होते हैं। पूर्णतः काला जगुआर भी कभी-कभी देखने में आता है। जगुआर का सिर और शरीर बड़ा और कसा हुआ होता है। पैर छोटे पर खूब मोटे और मजबूत होते हैं। यद्यपि वह काफी खूंखार जीव है, मनुष्यों पर वह बहुत कम हमला करता है।


जगुआर और तेंदुए के शरीर पर लगभग समान निशान बने होते हैं, पर जगुआर के शरीर के निशान अधिक बड़े और कम संख्या में होते हैं। जगुआर के निशानों के बीच में भी चिकत्तियां होती हैं। तेंदुए में ऐसा नहीं होता है। इन दोनों बिडालों की शारीरिक गठन भी अलग प्रकार की होती है। जगुआर अधिक गठीला और बड़ा होता है। उसके पैर छोटे होते हैं। जगुआर का चेहरा चौकोर होता है, जबकि तेंदुए का गोल।


दिन हो या रात, जमीन हो या जल, जगुआर हर समय और हर जगह शिकार कर सकता है। वह दौड़ने, कूदने, तैरने और पेड़ चढ़ने में उस्ताद है। जगुआर के पसंदीदा शिकारों में पेक्कारी (सूअर के समान दिखनेवाले जानवर) और कैपीबेरा (चूहे के वर्ग का पर 50 किलो वजन का जानवर) शामिल हैं। वह हिरण, बंदर, कैमन (मगरमच्छ जैसा जीव), चींटीखोर, पक्षी, छिपकली, सांप और कछुओं को भी खाता है। अन्य बिल्लियों के विपरीत जगुआर सरीसृप वर्ग के प्राणियों को बड़े चाव से खाता है। लगभग 500 साल पहले मनुष्यों द्वारा दक्षिण अमरीका लाई गई गाय-भैंस भी अब इस खूंखार जानवर की आहार सूची में शामिल हो गई हैं।


जगुआर पानी में जाकर भी खूब शिकार करता है। दरअसल वह नदियों, झीलों और दलदलों से कभी दूर नहीं रहता। वह लंबी दूरी तक तैर सकता है और चौड़ी-से-चौड़ी नदियों को भी तैरकर पार करता है। कई बार पानी में बैठे हुए कैपिबेरा और कैमनों को पकड़ने के लिए वह पानी में सीधे छलांग लगा देता है।


ज्यादातर वह रात को ही शिकार करता है। हालांकि वह बड़े जानवरों को आसानी से मार सकता है, लेकिन आमतौर पर वह छिपकली, सांप, कछुए, पक्षी आदि छोटे जीवों का ही शिकार करता है। सिंह, बाघ, तेंदुआ आदि शिकार को मारने के लिए उसकी गर्दन को काटते हैं, लेकिन जगुआर उसके सिर को काटता है। छोटे जीवों को वह आगे के पंजों से थप्पड़ मारकर वश में करता है। कई बार वह जमीन से छलांग लगाकर पेडों की डालियों पर बैठे बंदरों को पकड़ लेता है।


जगुआर साल भर प्रजनन करता है। वह एकांतवासी जीव है। केवल मैथुन के लिए नर और मादा मिलते हैं। उसके बाद मादा नर से दूर चली जाती है। लगभग तीन महीने बाद वह किसी गुफा या मांद में दो या चार शावकों को जन्म देती है। ये शावक जन्म के वक्त अंधे और लगभग एक किलो भारी होते हैं। लगभग तीन महीने का होने पर वे मां के साथ शिकार पर निकलने लगते हैं। वे दो साल तक मां के साथ ही रहते हैं और उसके बाद अपना अलग क्षेत्र बना लेते हैं। वन्य अवस्था में जगुआर की आयु लगभग 20 वर्ष होती है।


आजकल जगुआर बहुत कम दिखाई देते हैं। उनकी घटती संख्या का मुख्य कारण है पशुपालन, खनन और इमारती लकड़ी के लिए दक्षिण अमरीका के वर्षावनों का काटा जाना। जगुआर इन्हीं वनों में रहता है और उनके नष्ट हो जाने से वह भी विलुप्ति की ओर बढ़ता जा रहा है।


भारतीय ग्रे हॉर्नबिल

भारतीय ग्रे हॉर्नबिल (ऑकीसेरॉस बिरोस्ट्रिस ) एक साधारण हॉर्नबिल है जो भारतीय उपमहाद्वीप में पायी जाती है। यह सर्वाधिक वानस्पतिक पक्षी है और आमतौर पर जोड़े में दिखायी पड़ती है। इनमे पूरे शरीर पर ग्रे रंग के रोयें होते हैं और इनके पेट का हिस्से हल्का ग्रे या फीके सफ़ेद रंग का होता है। इनके सिर का उभार काले या गहरे ग्रे रंग का होता है और शिरस्त्राण इस उभार के वक्रता बुंडू तक फैला होता है। अनेकों शहरों के ग्रामीण क्षेत्रों में पाई जाने वाली हॉर्नबिलों में से एक हैं, ग्रामीण क्षेत्रों में ये विशाल वृक्ष युक्त मार्गों का उपभोग कर पाती हैं।इनकी आवाज़ कूकने जैसी जो कुछ-कुछ काली चील के समान होती है। इनकी उड़ान थोड़ी मुश्किल होती है और ये हवा में तैरने के साथ अपने फैले हुए पंखों को फड़फड़ाते हैं। ये छोटे समूहों या जोड़ों के रूप में पाए जाते हैं।


इनका प्रजनन काल अप्रैल से जून तक होता है और ये एक बार ऐ से पांच तक बिलकुल एक ही आकार एवम रूप के अंडे देती हैं। भारतीय ग्रे हॉर्नबिल आमतौर पर लम्बे पेड़ की कोटरों में अपना घोंसला बनाती है। अपनी आवश्यकतानुसार ये एक पहले से मौजूद कोटर या गड्ढे को और भी गहरा कर सकती हैं। मादा पक्षी पेड़ के कोटर में प्रवेश करती है और घोंसले के छेड़ को बंद कर देती है, मात्र एक छोटी से लम्बवत दरार छोड़ती है जिसका प्रयोग नर पक्षी उसे भोजन देने के लिए करता है। मादा पक्षी घोंसले के प्रवेश द्वार को अपने मलोत्सर्ग द्वारा बंद करती है।घोंसले के अन्दर आने पर मादा पक्षी अपने उड़न पंखों का निर्मोचन कर देती है और अण्डों को सेती है। जब मादा पक्षी के पंख पुनः विकसित होते हैं तो ठीक इसी समय उसके चूजे भी अंडे से बाहर आने की अवस्था में होते हैं और अंडा टूटकर खुल जाता है।


मुंबई के पास के एक घोंसले पर कियेगए अध्ययन से यह पता लगा कि वह फलदार पेड़ जिन पर यह रहती हैं उनके नाम स्ट्रेबलस एस्पर, कैन्सजेरा र्हीडी, कैरिसा कैरनडस, ग्रिविया टिलीएफोलिया, लैनिया कोरोमैन्डेलिका, फिक्स सप्प., स्टेरक्युलिया युरेंस और सेक्युरिनेगा ल्यूकोपाइरस है। ये प्रजाति गोंघा, बिच्छु, कीड़ों, छोटे पक्षियों (इन्हें गुलाब सदृश छल्ले वाले तोतों के चूजों को ले जाते हुए और संभवतः अपना शिकार बनाते हुए देखा गया है और सरीसृपों को अपना भोजन बनाने के लिए जानी जाती है ये थेवेतिया पेरुवियाना को अपने भोजन के रूप में खाने के लिए भी प्रसिद्द हैं जो अधिकांश रीढ़ धारियों के लिए विषाक्त माना जाता है।


यह प्रजाति लगभग पूर्णतया वानस्पतिक होती है और बहुत ही कम अवसरों पर भूमि पर आती है, जहां से वे गिरे हुए फल उठा सकें या धूल में नहा सकें!


डहेलिया की नई किस्में

डैलिया की नई किस्में बीज से पैदा की जाती हैं। डैलिया की जड़ें, जिनमें छोटी छोटी कलियाँ होती है, पौधों का रूप लेने की क्षमता रखती हैं। ये जड़ें छोटे छोटे टुकड़ों में इस प्रकार काटी जाती हैं कि हर टुकड़े में एक कली हो। इन टुकड़ों को जमीन में बोने पर, कलियों से नए पौधे निकलते हैं। कभी कभी इसके तने की कलम भी काटकर लगाई जाती है और उससे भी नए पौधे पैदा किए जाते हैं। डैलिया के पौधे अधिकतर खुली जगह तथा खादयुक्त, बलुई मिट्टी में भली भूंति विकसित होते हैं। अधिक शीत पड़ने पर इसके फुल मर जाते है। ऐसी दशा में इसकी जड़ें साफ करके दूसरे मौसम में बोने के लिये रख ली जाती है इसके पौधों पर कीड़े भी लगते हैं, जो संखिया के छिड़काव से मारे जाते हैं।


परिचय
यह उष्णकटिबन्धीय शीतोष्ण जलवायु में उगाया जाता है। डहेलिया के लिए सामान्य वर्षा वाली ठंडी जलवायु की आवश्यकता होती है। शुष्क एवं गर्म जलवायु इसकी सफल खेती में बाधक मानी गई है। दूसरी ओर सर्दी और पाले से फसल को भारी क्षति पहुँचती है। इसके लिए खुली धूप वाली भूमि उत्तम रहती है फूल बड़े आकार के बनते हैं जो देखने में अत्यन्त आकर्षक होते है, जबकि छाया में उगे पौधों के फूल आकार में छोटे और आकर्षक लगते हैं।


डहेलिया की सफल खेती के लिए भूमि का चयन एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्य है। डहेलिया के सुन्दर और बड़े आकार के फूल लेने के लिए उचित जल निकास वाली रेतीली दोमट भूमि जिसका क्षारांक ६ हो, सर्वोत्तम रहती है। अधिक चिकनी और कम जल निकास वाली भूमि इसकी सफल खेती में बाधक मानी गई है, क्योंकि ऐसी भूमि में पौधों का समुचित विकास एवं बढ़वार नहीं हो पाती है। जिसके परिणामस्वरुप वांछित आकार-प्रकार व रंग-रूप वाले फूल नहीं मिल पाते हैं यदि किसी कारण चिकनी मिट्टी में इसकी खेती करनी पड़े, तो उस स्थिति में पर्याप्त मात्रा में गोबर की खाद, चावल का छिलका और राख मिलाकर भूमि की संरचना में सुधार किया जा सकता है। प्रथम जुताई ट्रैक्टर या मिट्टी पलटने वाले हल से करने के उपरान्त कुछ दिनों के लिए खुली धूप में छोड़ दी जाती है। उसके बाद खेत में पर्याप्त मात्रा में गोबर की खाद या पत्ती की खाद डालकर भली-भांति मिला कर सुविधानुसार पानी की नालियाँ और क्यारियाँ बनाई जाती हैं।


डहेलिया की प्रमुख प्रजातियों में भरी हुई पंखुरियों वाली प्रजातियों के लिए- डियाना ग्रिगोरी, हाल मार्क, लिटिल विल्लो, लिटिल मेरिआन, रोहण्डा, डब्ल्यू जे०एन०, विलियन जानसन, गोरडन लाक वुड, गिलिन प्लेस, विल्लो सरप्राइज, मार्टिल्स यैलो, लिस्मोरे पेग्गी तथा पेनेकोर्ड मेरियान विशेष रूप से जाने जाते हैं। छोटे आकार वाली प्रजातियों में एल्पन मरजोरी, डाउनलहम रायल, रेड एडमिरियल नेटी, विकटर डी, व्हाइट नेटी, ब्रुकसाइड डाइरड्रे, सी मिस, कोइनोनिया लोकप्रिय हैं। गोलाकार प्रजातियों में कनोरा फायर बाल, एल एन क्रेसे, डीप साउथ, वोटन क्यूपिड, पीटर नेल्सन, क्रीचटन हनी, सीनियर बाल, विस्टा, रस्कीन जीप्सी, स्नोहो टैम्पी, एल्टैमीर चैरी, फीओना स्टीवार्ट श्रेष्ठ समझे जाते हैं और भारतीय प्रजातियों में स्वामी विद्यानंद, ज्योत्सना, लार्ड बुद्धा, भिक्कुस मदर, स्वामी लोकेशवरानंद, डा बी०पी० पाल, ब्रोदर सम्पिलीसियस श्रेष्ठ हैं।


'बोनसाई' मतलब बोने पौधे

बोनसाई का मतलब है "बौने पौधे"। यह काष्ठीय पौधों को लघु आकार किन्तु आकर्षक रूप प्रदान करने की एक जापानी कला या तकनीक है। इन लघुकृत पौधों को गमलों में उगाया जा सकता है। इस कला के अन्तर्गत पौधों को सुन्दर आकार देना, सींचने की विशिष्ट विधि तथा एक गमले से निकालकर दूसरे गमले में रोपित करने की विधिया शामिल हैं। इन बौने पौधों को समूह में रखकर घर को एक हरी-भरी बगिया बनाया जा सकता है। बोनसाई पौधों को गमले में इस प्रकार उगाया जाता है कि उनका प्राकृतिक रूप तो बना रहे लेकिन वे आकार में बौने रह जाएं। बोनसाई को पूरे घर में कहीं भी रखा जा सकता है।


'बोनसाई' शब्द मूल चीनी शब्द पेन्जाई (盆栽) का जापानी उच्चारण है। 'बोन' उस पात्र को कहते हैं जिसमें ये पौधे प्राय: उगाये जाते हैं। यह ट्रे के आकार का होता है।


बोनसाई बनाना 
बोनसाई की शैलियाँ:-जापान के बोनसाई विशेषज्ञों के अनुसार बोनसाई को लगभग तेरह तरह से उगाया जा सकता है।


1. सीधे वृक्ष: इसमें तने सीधे ऊपर की ओर पतले, मुख्य तने में चारों ओर की शाखाएं तने से 90 डिग्री का कोण बनाते हुए ऊपर बढ़ती हैं। चीड़, सिल्वर ओक, फर आदि के लिए यह शैली उपयुक्त है।


2. दो तने वाले वृक्ष: पौधों में मिट्टी की सतह से ही प्रति वृक्ष के दो तने बढ़ने दिए जाते हैं। तनों की ऊंचाई अलग-अलग होती है। इसे जापानी भाषा में सोकन कहते हैं।


3. अनेक तने वाले वृक्ष: एक जड़ से 6 या अधिक तने ऊपर सीधे बढ़ने दिए जाते हैं।


4. सिनुअस: अनेक तने विकसित होने दिए जाते हैं।


5. तिरछा बोनसाई: मुख्य तना जमीन से 45 डिग्री कोण पर झुका हुआ सीधा बढ़ता है।


6. ब्रूम: तना सीधा पर मध्य तने से निकलने वाली दूसरी शाखाएं केवल दो विपरीत दिशाओं में बढ़ने दी जाती हैं। इससे वृक्ष का रूप पंखे के समान हो जाता है।


7. खुली जड़ वाले वृक्ष: तना जमीन की सतह से 90 डिग्री या 45 डिग्री के कोण पर ऊपर की ओर बढ़ता है, साथ ही जड़ें भी मिट्टी के ऊपर बढ़ती हुई दिखाई देती हैं। इस शैली में पौधा लगाते समय पौधे की जड़ों को मिट्टी के अंदर ना डालकर ऊपर की ओर खुला रखकर चारों ओर बालू रख देते हैं।


8. कैस्केड: मुख्य तने को आधा झुका दिया जाता है। इसे गमले के पैंदे से नीचे तक झुकाया जाता है।


9. इकाडा वृक्ष: मुख्य तने को मिट्टी की सतह तक झुकाकर दो-तीन स्थानों पर शाखाओं को विकसित होने दिया जाता है।


10. विण्ड स्वेप्ट: वृक्ष भूमि की सतह से 90 डिग्री कोण का निर्माण करता है और साथ ही मुख्य तने से निकलने वाली शाखाओं को एक ही दिशा में बढ़ने दिया जाता है ताकि ऎसा प्रतीत हो कि शाखाएं वायु के झौके से प्रभावित हो गई हैं।


11. वृक्ष समूह: एक गमले में अनेक वृक्ष उगाए जाते हैं। इसके लिए चपटे, उथले व बड़े गमले प्रयोग में लाए जाते हैं।


12. लहराता बोनसाई: एक या दो मुख्य शाखाएं गमले की मिट्टी की सतह से तिरछी निकली हुई होती हैं।


13. चट्टानी बोनसाई: गमले की मिट्टी की सतह पर पुराने पत्थर अथवा चट्टान के टुकड़े रख दिए जाते हैं ताकि उन पर वृक्ष की जड़ें फैल जाएं।


बंद गोभी की 500 जातियां

बंद गोभी (पात गोभी या करमकल्ला ; अंग्रेजी : कैबेज) एक प्रकार का शाक (सब्जी) है, जिसमें केवल कोमल पत्तों का बँधा हुआ संपुट होता है। इसे बंदगोभी और पातगोभी भी कहते हैं। यह जंगली करमकल्ले (ब्रेसिका ओलेरेसिया, Brassica oleracea) से विकसित किया गया है। शाक के लिए उगाया जानेवाला करमकल्ला मूल प्रारूप से बहुत भिन्न हो गया, यद्यपि फूल और बीज में विशेष अंतर नहीं पड़ा है!


करमकल्ले के लिए पानी और ठंडे वातावरण की आवश्यकता है। इसको खाद भी खूब चाहिए। बीच में दो चार दिन गर्मी पड़ जाने से भी करमकल्ले का संपुट अच्छा नहीं बन पाता। संपुट बनने के बदले इसमें से शाखाएँ निकल पड़ती हैं, जिनमें फूल तथा बीज उगने लगते हैं। करमकल्ला पाला नहीं सहन कर सकता। पाले से यह मर जाता है। यद्यपि ऋतु ठंडी होनी चाहिए, तो भी करमकल्ले के पौधों को दिन में धूप मिलना आवश्यक है। छाँह में अच्छे पौधे नहीं उगते।


जैसा ऊपर कहा गया है, करमकल्ले के लिए खूब खाद चाहिए, परंतु किसी विशेष प्रकार की खाद की आवश्यकता नहीं है; यहाँ तक कि ताजे गोबर से भी यह काम चला लेता है, किंतु सड़ा गोबर और रासायनिक खाद इसके लिए अधिक उपयोगी है। अन्य पौधों में अधिक खाद देने से फूल अथवा फल देर में तैयार होते हैं। इसके विपरीत करमकल्ला अधिक खाद पाने पर कम समय में ही खाने योग्य हो जाता है। पानी में थोड़ी भी कमी होने से पौधा मुरझाने लगता है और उसकी वृद्धि रुक जाती है। पर इसकी जड़ में पानी लगने से पौध सड़ने लगता है। भूमि से पानी की निकासी अच्छी होनी चाहिए। जिसमें पानी जड़ों के पास एकत्र न होने पाए। भूमि दोरसी हो, अर्थात् उसमें चिकनी मिट्टी की भाँति बँधने की प्रवृत्ति न हो। जो भूमि पानी मिलने के पश्चात् बँधकर कड़ी हो जाती है वह करमकल्ले के लिए उपयुक्त नहीं होती। मिट्टी कुछ बलुई हो। इतने पर भी भूमि की गुड़ाई बार-बार करनी चाहिए, परंतु गुड़ाई इतनी गहरी न की जाए जड़ ही कट जाए।


करमकल्ले की गई जातियाँ हैं। कुछ तो लगभग तीन महीने में तैयार हो जाती हें और कुछ के तैयार होने में छह महीने तक समय लग सकता है। भारत के मैदानों के लिए शीघ्र तैयार होनेवाली जातियाँ ही उपयुक्त होती हैं, क्योंकि यहाँ जाड़ा अधिक दिनों तक नहीं पड़ता। आकृतियों में भी बहुत अंतर होता है। कुछ का पत्ता इतना छोटा और सिर इतना चपटा रहता है कि वे भूमि पर बिठे हुए जान पड़ते हैं। कुछ के तने १६ से २० इंच तक लंबे होते हैं। इनका सिर गोल, अंडाकार या शंक्वाकार हो सकता है। पत्तियों का रंग पिलछाँव, हरा, धानी (गाढ़ा हरा), अथवा इतना गहरा लाल होता है कि वे काली दिखाई पड़ती हैं। भारत के मैदानों में हलके रंग के करमकल्ले ही उगाए जाते हैं। कुछ के पत्ते चिकने और कुछ के झालरदार होते हैं। अमरीका के बीज बेचनेवाले पाँच सौ से अधिक जातियों के बीज बेचते हैं।


राम का राष्ट्रवाद उपदेश

गतांक से...
 जब राजा इस प्रकार का बन जाता है, तो प्रजा में संग्रह की प्रवृत्ति मानो समाप्त हो जाती है! वितरण प्रणाली पवित्र बन जाती है! जब वितरण प्रणाली पवित्र बन जाती है तो मानो राजा के राष्ट्र में रक्त भरी क्रांति कहां से आएगी? तो भगवान राम की उपदेश मंजरी प्रारंभ रहती थी! तो देखो सुबाहु राजा ने यह वाक्य स्वीकार कर लिया और चरणों की वंदना की! प्रभु वाक्य में यथार्थ है! परंतु मैं क्या करूं? जाओ तुम सबसे पहले धर्म के नाम पर रूढ़ि समाप्त करो! राजा एकाकी धर्म वाला रहना चाहिए! परमात्मा सर्वज्ञ है, परमात्मा सर्वशक्तिमान रहता है, सबके हृदय में वास करने वाला है! उस परमपिता को स्वीकार करते हुए नाना रूढियों में समाज नहीं रहना चाहिए! विद्यालयों में तपे हुए आचार्य होनी चाहिए! रूडी का निराकरण विद्यालय में हुआ करता है! तुम्हारे विद्यालय में जब तपे हुए आचार्य होंगे तो मानो ब्रह्मचारी उसके अनुसार बरतने वाले होंगे, तो रूढिया विद्यालयों में समाप्त होती है और जब रूढि विद्यालय में नहीं रहेगी तो देखो राजा के राष्ट्र में भी नहीं रहेगी और राजा के राष्ट्र में नहीं रहेगी तो प्रजा में नहीं रहेगी! क्योंकि विद्यालयों में यज्ञ करना, प्रातः कालीन अपनी क्रियाओं से निवृत्त होकर के, यज्ञ करना उसके ऊपर वेद के मंत्रों का भावार्थ करना, मानव देखो उसके अनुकूल, हमें अपने विचारों को बनाना है और बना करके अगर धन्य बनना है, अगर नियत बनना है! मेरे पुत्रों यह कार्य करना है तो राष्ट्र की प्रतिभा ऊंची बनेगी! मुनिवर देखो, राजा ने स्वीकार कर लिया राम को धन्यवाद देकर के, उनके चरणों की वंदना करके, उन्होंने वहां से गमन किया! बेटा उच्चारण करने का हमारा अभिप्राय क्या है? देखो तुम्हें यह वाक्य प्रकट कर रहे हैं कि हमारे जीवन में एकीकरण होना चाहिए! नाना रूढ़िया नहीं होनी चाहिए! जैसे मुझे मेरे प्यारे महानंद जी ने प्रकट कराई थी कई काल में, उनके लिए आज इतना समय आज्ञा नहीं दे रहा है! क्योंकि भगवान राम के जीवन को विद्यालयों से लेकर अंत तक की झलकियां आती है! उनका वही क्रियाकलाप प्रारंभ रहता है, दृष्टिपात आता है! आज का हमारा यह वाक्य कह रहा है कि हम परमपिता परमात्मा की आराधना करते हुए यज्ञ में रत रहते हुए, अपने जीवन को ऊंचा बनाते चले जाएं! मान-अपमान वाले सागर से पार हो जाए! बेटा आज का वाक्य समय मिलेगा ये चर्चा करेंगे! आज के वाक्य देखो वह परमपिता परमात्मा है, आदरणीय है और उसको जो भी मान लेता है उसी को प्राप्त हो जाता है! देखो चाहे राष्ट्र समाज हो, योगेश्वर हो, परंतु इनकी चर्चा तो मैं कल करूंगा, आज का वाक्य समाप्त होता है! अब वेदो का पठन पाठन होगा!


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


October 30, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-87 (साल-01)
2. बुधवार ,30 अक्टूबर 2019
3. शक-1941, कार्तिक-शुक्ल पक्ष, तिथि-तीज, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:23,सूर्यास्त 05:53
5. न्‍यूनतम तापमान -20 डी.सै.,अधिकतम-29+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित


दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...