रविवार, 10 जुलाई 2022

शामली: हजारों की संख्या में लोगों ने नमाज अदा की

शामली: हजारों की संख्या में लोगों ने नमाज अदा की 

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। उत्तर प्रदेश में ईद-उल-अजहा का त्यौहार आज बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। जिसके चलते शामली जनपद के ईदगाह में हजारों की संख्या में लोगों ने समय से पहुंचकर नमाज अदा की है। वहीं, इस दौरान ईदगाह के प्रांगण के अंदर ही लोगों ने लाउडस्पीकर की धीमी आवाज के साथ नमाज अदा की है। इस दौरान पुलिस प्रशासन भी काफी सतर्क नजर आया है। वही नमाज के दौरान सभी मुस्लिम भाइयों ने भाईचारे की एकता और चैनो अमन की दुआ मांगी है। आपको बता दें कि ईद उल अजहा की नमाज आज पूरे देश में अदा की जा रही है। वही शामली में ईदगाह स्थल पर लगभग 4 से 5000 लोग नमाज अदा करने पहुंचे। वही ईदगाह में नमाज अदा करने के लिए पुलिस प्रशासन ने कड़ी व्यवस्था के इंतजाम किए हुए थे। पुलिस प्रशासन की सतर्कता के चलते सभी मुस्लिम भाइयों ने ईदगाह प्रांगण के अंदर ही नमाज अदा की है।

वही उत्तर प्रदेश सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार लाउडस्पीकर की आवाज ईदगाह प्रांगण तक ही सीमित रखी गई। वहीं, रविवार सुबह 7:00 बजे 'ईद-उल-अजहा' की नमाज अदा करने के लिए हजारों की संख्या में मुस्लिम भाई एकत्रित हुए। जिन्होंने पूरी दुनिया के लिए चैनो अमन की दुआ मांगी है। जिसके चलते शामली जनपद में बड़े ही शांतिपूर्ण ढंग से ईद उल अजहा की नमाज अदा कराई गई है। नमाज अदा करने पहुंचे मोहम्मद जुनैद ओर मोहम्मद गुलफाम का कहना है कि आज शामली जनपद के ईदगाह स्थल पर हजारों की संख्या में मुस्लिम भाई नमाज अदा करने पहुंचे। जिन्होंने बड़े ही शांतिपूर्ण ढंग से भाईचारे और चैनो अमन की दुआ मांगते हुए नमाज अदा की है। वहीं नमाज अदा कराने में शामली जनपद की पुलिस-प्रशासन का बड़ा सहयोग रहा है।

खुले में मांस की बिक्री पर रोक लगाने की योजना: यूपी

खुले में मांस की बिक्री पर रोक लगाने की योजना: यूपी 

संदीप मिश्र 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार दो साल के अंतराल के बाद होने वाली कांवड़ यात्रा के लिए निर्धारित मार्गो पर खुले में मांस की बिक्री पर रोक लगाने की योजना बना रही है। 14 जुलाई से शुरू होने वाली और एक पखवाड़े तक चलने वाली कांवड़ यात्रा के लिए व्यापक इंतजाम किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे कांवड़ यात्रियों द्वारा ली गई सड़कों को साफ करें और उनके साथ खुले में मांस की बिक्री पर रोक लगाने के अलावा प्रकाश व्यवस्था, स्वच्छता और प्राथमिक चिकित्सा की व्यवस्था करें।

अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने कहा, "मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए यह सुनिश्चित करने के सभी प्रयास किए जा रहे हैं कि कांवड़ यात्रा पूरे राज्य में सुरक्षित और शांतिपूर्ण तरीके से हो।" अधिकारियों ने कहा कि स्थानीय, जिला और पुलिस प्रशासन इसे सुनिश्चित करने के लिए मांस व्यापारियों से संपर्क कर रहा है। बरेली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने कहा, "हमने मांस व्यापारियों से संपर्क किया है और उन्हें यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि खुले में मांस की बिक्री न हो। व्यापारियों ने हमें इसका आश्वासन दिया है।" बिजनौर के पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने कहा कि उन्होंने मांस व्यापारियों से भी इसी तरह की अपील की है, जिन्होंने आश्वासन दिया है कि कांवड़ियों के रास्ते में मांस की बिक्री नहीं होगी। भगवान शिव के भक्त 'कांवड़ियां' गंगा नदी के तट पर पानी लाने के लिए जाते हैं, जिसे वे अपने घरों या इलाकों के मंदिरों में चढ़ाते हैं। वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि कांवड़ यात्रा की व्यवस्था करने का काम जोरों पर है। अधिकारी मार्ग में उचित स्वच्छता व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था और महत्वपूर्ण स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने सहित अन्य विवरणों की जांच कर रहे हैं।

अधिकारियों ने कांवड़ यात्रियों के साथ कीमतों को लेकर किसी भी तरह की बहस से बचने के लिए व्यापारिक प्रतिष्ठानों और भोजनालयों को रेट दर लगाने को कहा है। प्रशासनिक अधिकारियों के मुताबिक, उत्तराखंड के हरिद्वार पहुंचने के लिए लाखों श्रद्धालु पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर, शामली, मेरठ, गाजियाबाद और बागपत जिलों से गुजरते हैं। दिल्ली, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश से भी श्रद्धालु सहारनपुर, शामली और बागपत जिलों से होकर जाते हैं। मुरादाबाद और बरेली से बड़ी संख्या में श्रद्धालु बिजनौर और अमरोहा होते हुए हरिद्वार पहुंचते हैं। यात्रा 2020 और 2021 में कोविड-19 के प्रकोप के कारण आयोजित नहीं की गई थी। चूंकि पिछले दो वर्षो में यात्रा नहीं हुई है, इसलिए अधिकारी इस बार कांवड़ यात्रियों की संख्या में वृद्धि की उम्मीद कर रहे हैं। अधिकारियों को व्यवस्था करते समय इस बात का ध्यान रखने को कहा गया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि धार्मिक जुलूस में किसी को भी हथियार प्रदर्शित करने की अनुमति नहीं होगी और कांवड़ यात्रियों को अनुमेय सीमा के भीतर मात्रा रखते हुए संगीत प्रणालियों पर भक्ति गीत बजाने की अनुमति होगी। पुलिस प्रशासन ने संवेदनशील इलाकों की भी पहचान की है। जहां यात्रा के दौरान अतिरिक्त बल तैनात किया जाएगा।

'ईद-उल-अजहा' की नमाज संपन्न, अलर्ट मोड पर पुलिस

'ईद-उल-अजहा' की नमाज संपन्न, अलर्ट मोड पर पुलिस

भानु प्रताप उपाध्याय
मुजफ्फरनगर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल 'ईद-उल-अजहा' की नमाज को सकुशल संपन्न कराने के लिए लगातार भ्रमणशील रहे और पुलिस को अलर्ट मोड पर रखा। परिणाम स्वरूप जिलेभर की सभी मस्जिदों में ईद-उल-अजहा की नमाज पारंपरिक तरीके से शांतिपूर्ण माहौल में संपन्न हो गई। रविवार को ईद-उल-अजहा के मौके पर जिले भर की सभी मस्जिदों में अकीदतमंदो द्वारा बकरीद की नमाज अदा की गई। ईद की नमाज को संपन्न कराने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल लगातार भ्रमणशील रहे और सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते रहे। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा शामली बस स्टैण्ड , बरला, छपार, पुरकाजी, चरथावल आदि क्षेत्र में स्थित धार्मिक स्थल व ईदगाह का निरीक्षण करते हुए धर्मगुरुओं एवं स्थानीय लोगों को ईद की शुभकामनाएं दी गई तथा आपसी सौहार्द को बनाये रखने की अपील की गई। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल द्वारा ड्यूटी प्वाइंट पर तैनात पुलिस बल को सतर्क दृष्टि रखते हुए ड्यूटी करने, सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडने की कोशिश करने वालों एवं असामाजिक तत्वों तथा माहौल खराब करने वालों पर तत्काल कार्यवाही करने तथा यातायात व्यवस्था दुरुस्त रखने हेतु निर्देशित किया गया। साथ ही स्थानीय लोगों से आपसी भाईचारा बनाए रखने, अफवाहों पर ध्यान न देने, सोशल मीडिया पर किसी भी तरह की आपत्तिजनक/भ्रामक पोस्ट न शेयर करने, खुली जगह पर कुर्बानी न देने, कुर्बानी के अवशेष नगर पंचायत की गाडी में ही डालने , सोशल मीडिया पर कुर्बानी के फोटो/वीडियो शेयर न करने तथा आपसी सौहार्द बिगाडने की कोशिश करने वालों की सूचना तत्काल पुलिस को देने की अपील की गई।
जनपदीय भ्रमण के दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल द्वारा ड्रोन कैमरों से संवेदनशील स्थानों तथा मकानों की छतों की निगरानी भी की जा रही है। सुरक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ रखने हेतु पर्याप्त संख्या में पुलिस एवं PAC तैनात की गई है।

फिल्म ‘शमशेरा’ को लेकर चर्चा बटोर रहे हैं, कपूर

फिल्म ‘शमशेरा’ को लेकर चर्चा बटोर रहे हैं, कपूर

कविता गर्ग 
मुंबई। बॉलीवुड एक्टर रणबीर कपूर इस वक्त अपनी फिल्म ‘शमशेरा’ को लेकर चर्चा बटोर रहे हैं। इस फिल्म के जरिए रणबीर कपूर करीब 4 साल बाद फिल्मी पर्दे पर वापसी कर रहे हैं। रणबीर कपूर ‘शमशेरा में डबल रोल में हैं। इस फिल्म में वो पिता और बेटे का किरदार निभा रहे हैं। जहां फिल्म का ट्रेलर देखने के बाद से ही लोग रणबीर की एक्टिंग और लुक की तारीफ कर रहे हैं, वहीं रणबीर को इस फिल्म की शूटिंग के दौरान काफी मुश्किलें झेलनी पड़ीं। रणबीर ने हाल ही दिए इंटरव्यू में बताया कि इस फिल्म को करने के दौरान उन्हें दिन में 20 बार नहाना पड़ता था। वो मन में डायरेक्टर को गालियां देते थे।
सेट पर इकट्ठा रहती थी 10-15 किलो धूल
ने  की शूटिंग के दौरान का एक्सपीरियंस शेयर करते हुए इंटरव्यू में कहा कि फिल्म के सेट पर रोजाना 10 से 15 किलो धूल इकट्ठा करके रखी जाती थी। जैसे ही शूटिंग शुरू होती उस धूल को फैन के आगे उड़ाया जाता था। धूल उड़कर आंखों में, बालों और मुंह में घुस जाती थी और ऐसे में डायलॉग बोल पाना भी बहुत मुश्किल होता था।
रणबीर ने बताया कि उन्हें घर जाकर रोजाना 20 बार नहाना पड़ता था। पर फिर भी धूल नहीं निकल पाती थी। ऐसे में वो दिमाग में डायरेक्टर को खूब गालियां देते थे। लेकिन जब रणबीर ने बाद में फिल्म के रशेज और ट्रेलर देखा तो उन्हें अहसास हुआ कि क्यों वो धूल इतनी जरूरी थी और किस कदर उनकी मेहनत बेकार नहीं गई।
रणबीर ने यह भी खुलासा किया कि उन्हें ‘शमशेरा’ में बली के किरदार के लिए अप्रोच किया गया था। शेरा का किरदार कोई और एक्टर निभाने वाला था। जब रणबीर को ये बात पता चली तो उन्होंने मेकर्स से कहा कि वो ही दोनों किरदार निभाना चाहेंगे क्योंकि उन्हें लगता कि वो ही एक पिता और बेटे दोनों किरदारों के साथ न्याय कर पाएंगे।
‘शमशेरा’ 22 जुलाई को रिलीज होगी। फिल्म में उनके ऑपोजिट वाणी कपूर नजर आएंगी। करण मल्होत्रा द्वारा डायरेक्ट की गई इस फिल्म में संजय दत्त, आशुतोष राणा, रोनित रॉय, सौरभ शुक्ला और त्रिधा चौधरी भी नजर आएंगी। ‘शमशेरा’ के अलावा रणबीर कपूर ‘ब्रह्मास्त्र-पार्ट 1’ में भी नजर आएंगे। 9 सितंबर को रिलीज होने वाली इस फिल्म में आलिया भट्ट, अमिताभ बच्चन और मौनी रॉय समेत कई और कलाकार होंगे।

कम तापमान, खाने के लिए सुरक्षित व स्वच्छ

कम तापमान, खाने के लिए सुरक्षित व स्वच्छ 

सरस्वती उपाध्याय 
ठंडा तापमान हमारे खाने के सामान के लिए अधिक सुरक्षित और स्वच्छ माना जाता है। क्योंकि, कम तापमान होने के कारण उन सूक्ष्म जीवों और बैक्टीरिया की गति को रोकने में यह तापमान मदद करता है। जो हमारे भोजन को खराब कर सकते हैं। इसलिए ही कच्चे मांस और कुछ सब्जियों और खाद्य पदार्थों के लिए कम तापमान होना चाहिए। कुछ सब्जियां, तो ठंडे तापमान में ठीक रहती है। लेकिन, कुछ को गर्म स्थान पर रखने की आवश्यकता होती है, नहीं तो वह खराब हो जाती है। आइए जानते हैं, कौन-कौन सी हैं वह चीजें ?

-कच्चे टमाटर को कमरे के तापमान पर रखना चाहिए ताकि उनमें अधिक स्वाद और रस का विकास हो सके। क्योंकि ठंडे तापमान में वे अपने स्वाद को खो देते है। पुरी तरह से पकने के बाद प्लास्टिक की थैलियों में पैक कर के इनको फ्रिज में रख सकते हैं। लेकिन इनका उपयोग करने से पहले आप कम से कम आधे घंटे के लिए कमरे के तापमान पर रखना चाहिए।

-बिना छिलके वाले प्याज के लिए हवा की जरूरत होती है। यदि आप इन्हे फ्रिज में रख देते हैं तो नमी के कारण ये नरम हो सकते हैं। लेकिन छिलके वाले प्याज को हमेशा फ्रिज में रखना चाहिए।

-बहुत सारे लोग मेवा को खराब होने से बचाने के लिए फ्रिज में रखते हैं। लेकिन यह वास्तव में अच्छे से ज्यादा नुकसान कर सकते हैं।  ठंडा तापमान उनके  स्वाद को खराब कर सकता है। फ्रिज में छिपी अन्य गंधों को भी अवशोषित कर सकते हैं। अगर आप लहसुन को फ्रिज में रखते हैं तो यह अंकुरित होना शुरू हो सकता है और रबड़ जैसा हो सकता है। इसे सूखी जगह पर रखें। आलू को फ्रिज में रखने की आवश्कता नही है। यदि आप उन्हें ठंडे तापमान में रखते हैं तो फ्रिज स्टार्च को चीनी में बदल देगा। इनको उपयोग करने से पहले ना धोए क्योंकि नमी खराब होने का रिस्क रहता है। शहद को फ्रिज में रखने की जरूरत नहीं है। क्योंकि यह बाहर रखे जाने पर भी चिकना और ताज़ा रह सकता है। इसे फ्रिज में रखने से क्रिस्टलीकरण हो सकता है।

राजनाथ ने भौतिकी में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की

राजनाथ ने भौतिकी में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की 

अकांशु उपाध्याय/संदीप मिश्र 
नई दिल्ली/गोरखपुर। 10 जुलाई 1951 को भभौरा में एक किसान परिवार में जन्मे राजनाथ ने गोरखपुर विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की। उन्होंने मिर्जापुर कॉलेज में भौतिकी के व्याख्याता के रूप में अपना करियर शुरू किया। राजनाथ ने 16 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़कर राजनीति में कदम रखा था।
राजनाथ सिंह एक भारतीय राजनेता हैं, जो भारत के रक्षा मंत्री के रूप में कार्यरत हैं। भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष रहे राजनाथ, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में पहले गृहमंत्री के रूप में भी जाने जाते हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में, राजनाथ सिंह ने 2014 के आम चुनावों में पार्टी की शानदार जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यह राजनाथ सिंह ही थे, जिन्होंने सुषमा स्वराज और लालकृष्ण आडवाणी जैसे वरिष्ठ नेताओं की कड़ी आलोचना के बावजूद नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया था। 2014 में लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा के बहुमत से जीतने के बाद सिंह को गृह मंत्रालय दिया गया था। 2014 में इस दिन राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय पार्टी अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया था।
10 जुलाई 1951 को भभौरा में एक किसान परिवार में जन्मे राजनाथ ने गोरखपुर विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की। उन्होंने मिर्जापुर कॉलेज में भौतिकी के व्याख्याता के रूप में अपना करियर शुरू किया।
राजनाथ ने 16 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़कर राजनीति में कदम रखा था। बाद में वे 1972 में भारतीय जनसंघ की मिर्जापुर इकाई के सचिव बने। राष्ट्रीय आपातकाल के दौरान लोकप्रियता हासिल करने के बाद 1980 में वे भाजपा में शामिल हो गए, जब उन्हें दो साल के लिए गिरफ्तार किया गया था।
उन्होंने उत्तर प्रदेश में पहली बार भाजपा सरकार में शिक्षा मंत्री के रूप में शिक्षा प्रणाली में कई बदलाव लाए। उत्तर प्रदेश में स्कूलों और कॉलेजों में धोखाधड़ी को रोकने के लिए राजनाथ सिंह द्वारा विवादास्पद नकल विरोधी अधिनियम को आगे बढ़ाया गया था। उन्होंने वैदिक गणित को भी पाठ्यक्रम में शामिल किया। सिंह ने 2000 से 2002 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में उल्लेखनीय सुधार किए। 2003 में, सिंह को केंद्रीय कृषि मंत्री और बाद में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में खाद्य प्रसंस्करण के लिए नियुक्त किया गया। वह 31 दिसंबर, 2005 को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने, जिसमें उन्होंने 19 दिसंबर, 2009 तक सेवा की। 2013 में, नितिन गडकरी के इस्तीफे के बाद उन्हें पार्टी अध्यक्ष के रूप में फिर से चुना गया।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 18,257 नए मामलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 18,257 नए मामलें  

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। भारत में 24 घंटे में कोरोना वायरस (कोविड-19) के 18,257 नए मामलें सामने आने से संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 4,36,22,651 हो गई जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 1,28,690 हो गयी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के रविवार सुबह आठ बजे तक अद्यतन आंकड़ों के अनुसार 42 और मरीजों की मृत्यु होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 5,25,428 हो गयी है। उपचाराधीन मरीजों की संख्या में एक दिन में 3,662 मामलों की वृद्धि दर्ज की गयी है। उपचाराधीन मरीजों की संख्या संक्रमण के कुल मामलों का 0.30 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 98.50 फीसदी है। 
स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार संक्रमण की दैनिक दर 4.22 प्रतिशत दर्ज की गयी जबकि साप्ताहिक संक्रमण दर 4.08 प्रतिशत है। इस बीमारी से उबरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 4,29,68,533 हो गयी जबकि मृत्यु दर 1.20 प्रतिशत है। देशव्यापी कोविड-19 रोधी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक 198.76 करोड़ खुराक दी जा चुकी हैं। गौरतलब है कि देश में सात अगस्त 2020 को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त 2020 को 30 लाख और पांच सितंबर 2020 को 40 लाख से अधिक हो गई थी। 
संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर 2020 को 50 लाख, 28 सितंबर 2020 को 60 लाख, 11 अक्टूबर 2020 को 70 लाख, 29 अक्टूबर 2020 को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे। देश में 19 दिसंबर 2020 को ये मामले एक करोड़ से अधिक हो गए थे। पिछले साल चार मई को संक्रमितों की संख्या दो करोड़ और 23 जून 2021 को तीन करोड़ के पार पहुंच गई थी। इस साल 25 जनवरी को मामले चार करोड़ के पार चले गए थे।

अमरनाथ यात्रा को जल्द शुरू किए जाने की पूरी कोशिश

अमरनाथ यात्रा को जल्द शुरू किए जाने की पूरी कोशिश 

इकबाल अंसारी 
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने दावा किया है कि अमरनाथ यात्रा को जल्द शुरू किए जाने की पूरी कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि रास्ते को ठीक करने का काम तेज़ी से चल रहा है और जो यात्री यहां आने चाहते हैं वो आए हम उन्हें बेहतर सुविधा देंगे।
अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने से हुए हादसे में कम से कम 16 लोगों  की मौत हो गई थी। इस हादसे के बाद अमरनाथ यात्रा को फिलहाल रोका गया है। अभी भी घटनास्थल पर राहत और बचाव कार्य बेहद ही तेजी से चल रहा है। मलबे को लगातार तलाशने का काम भी किया जा रहा है। इन सबके बीच जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने दावा किया है कि अमरनाथ यात्रा को जल्द शुरू किए जाने की पूरी कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि रास्ते को ठीक करने का काम तेज़ी से चल रहा है और जो यात्री यहां आने चाहते हैं वो आए हम उन्हें बेहतर सुविधा देंगे। 
उपराज्यपाल ने कहा कि जिस प्रकार से CRPF, जम्मू पुलिस, प्रशासन और आर्मी के लोगों ने वहां बचाव किया है वो बहुत प्रशंसनीय है, कुछ प्रिय जन हमारे बीच नहीं रहें। हम उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बचाव अभियान के साथ-साथ यात्रा फिर से बहाल हो इसके लिए पूरी कोशिश की जा रही है। बचाव कार्य और रास्ते को साफ करने की गति में तेज़ी लाने के लिए भारतीय सेना ने महत्वपूर्ण बचाव उपकरण बालटाल में खींचकर लाए हैं। खराब मौसम के कारण जम्मू से अमरनाथ यात्रा स्थगित कर दी गई है और किसी भी नए जत्थे को यहां से दक्षिण कश्मीर स्थित गुफा मंदिर के आधार शिविरों में जाने की अनुमति नहीं दी गई है।
इससे पहले उप राज्यपाल ने उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की जिसमें अमरनाथ की पवित्र गुफा के पास चल रहे बचाव एवं राहत अभियान की समीक्षा की गई। इस बैठक में थलसेना, पुलिस, वायुसेना और नागरिक प्रशासन के शीर्ष अधिकारियों ने हिस्सा लिया और बैठक शुरू होने से पहले कल की दुर्भाग्यपूर्ण घटना में जान गंवाने वाले श्रद्धालुओं के लिए दो मिनट का मौन रखा। सिन्हा ने कहा था कि मैं अनुरोध करता हूं कि यात्री शिविरों में ही रहें। प्रशासन उनको आराम से रहने के लिए सभी सुविधाएं मुहैया करा रहा है। हम यात्रा को यथाशीघ्र बहाल करने की कोशिश कर रहे हैं।

मुंबई: स्टनिंग लुक, व्हाइट साड़ी में दिखीं अभिनेत्री

मुंबई: स्टनिंग लुक, व्हाइट साड़ी में दिखीं अभिनेत्री

कविता गर्ग
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा एक बार फिर अपने ग्लैमरस लुक्स को लेकर सुर्खियों में आ गई हैं। रविवार को उनका साड़ी लुक देखने को मिला। व्हाइट साड़ी में मलाइका स्टनिंग लुक में दिख रही हैं। ग्लैमरस मलाइका अरोड़ा की ये ये तस्वीरें उनके घर की हैं, जब वह किसी कार्यक्रम में शामिल होने घर से निकल रही थीं। इंटरनेट पर मलाइका की झीनी सफेद साड़ी में तस्वीरें सामने आईं‌। इन फोटोज में मलाइका बेहद खूबसूरत दिख रही हैं। पिछले दिनों वे बॉयफ्रेंड अर्जुन कपूर के साथ पेर‍िस में थीं। जुलाई 10, 2022 मलाइका अरोड़ा ने न्यूज मेकअप किया था। उनके फेस पर नेचुरल ग्लो नजर आ रहा था।मलाइका ना सिर्फ फैशन बल्कि अपनी निजी लाइफ को लेकर भी चर्चा में रहती हैं। मलाइका हर रोज सोशल मीडिया पर अपने फैशनेबल आउटफ‍िट से लोगों का ध्यान खींच लेती हैं। इस बार अपने साड़ी अवतार से उन्होंने फैंस का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।

गूगल ने प्ले स्टोर से 4 खतरनाक ऐप्स को हटाया

गूगल ने प्ले स्टोर से 4 खतरनाक ऐप्स को हटाया 

अकांशु उपाध्याय/सुनील श्रीवास्तव 
नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। सर्च इंजन गूगल अपने उपभोक्ताओं की सुरक्षा को लेकर सतर्क रहता है। अब गूगल ने प्ले स्टोर से जोकर मैलवेयर से संक्रमित होने वाले चार खतरनाक ऐप्स को हटा दिया है‌। साथ ही गूगल ने चेतावनी दी है कि इन ऐप्स का इस्तेमाल ऑनलाइन धोखाधड़ी करने के लिए किया जा सकता है। लेकिन आप पूरी तरह सेफ Newzo App डाउनलोड कर खूब पैसे कमा सकते है।
रिपोर्ट के मुताबिक, जोकर मैलवेयर की 2017 में पहली बार पहचान हुई थी। 2019 में गूगल ने लोगों को आगाह करते हुए जोकर मैलवेयर से बचने के तरीके बताए थे। अब यह जोकर मैलवेयर फिर से देखा गया है। ये मैलवेयर चार ऐसे एंड्रॉयड मोबाइल ऐप में पाया गया है, जिन्हें लाखों उपभोक्ताओं ने डाउनलोड किया था। गूगल ने इन चारों ऐप को गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया है‌। इन ऐप्स की पहचान एसएमएस, ब्लड प्रेशर मॉनीटर, लैंग्वेज ट्रांसलेटर और क्विक टेक्स्ट एसएमएस के रूप में हुई है। यदि आपके फोन में भी इनमें से कोई ऐसा ऐप है तो तुरंत डिलीट कर दीजिए, वरना आप भी धोखाधड़ी के शिकार हो सकते हैं। खास बात यह है कि ये मैलवेयर अपनी पहचान फोन में नहीं छोड़ते हैं। ऐसे में किसी को पता ही नहीं चल पाता कि उनके फोन में मैलवेयर है।

गूगल की उपभोक्ताओं से अपील...
गूगल ने उपभोक्ताओं से कहा है कि यदि आपने चारों में से किसी एक ऐप को डाउनलोड किया है तो फोन से ऐप को तत्काल डिलीट कर दें। इसके अलावा गूगल प्ले स्टोर पर मीनू में जाकर सभी सब्सक्रिप्शन चेक करें। मोबाइल के फाइल मैनेजर में यदि कोई ऐसा फोल्डर दिख रहा है जिसके बारे में आपको जानकारी नहीं है तो उसे भी डिलीट कर दें।
यूट्यूब पर नहीं कर सकेंगे आपत्तिजनक टिप्पणी
वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म यूट्यूब एक नए फीचर पर काम कर रहा है। नए फीचर के आने के बाद किसी चैनल या वीडियो पर आने वाले आपत्तिजनक टिप्पणी पर लगाम लग सकेगी। यूट्यूब अपने इस नए फीचर की शुरुआत 29 जुलाई से कर रहा है।
एक साथ दो फोन पर व्हाट्सएप चला सकेंगे।
कई लोग एक साथ दो-दो स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन वह व्हाट्सएप सिर्फ एक ही फोन पर चला पाते हैं। अब यह समस्या खत्म होने वाली है। जल्द ही आप व्हाट्सएप का इस्तेमाल एक साथ दो स्मार्टफोन पर कर पाएंगे। इसके लिए आपको किसी ट्रिक की जरूरत नहीं होगी। नए फीचर का नाम कंपेनियन मोड है। इससे प्राइमरी डिवाइस के अलावा एक अन्य डिवाइस पर भी चैट की जा सकती है।

राहुल के परिजन और ग्रामीणों ने सीएम से मुलाकात की

राहुल के परिजन और ग्रामीणों ने सीएम से मुलाकात की

दुष्यंत टीकम 
रायपुर। जांजगीर-चांपा जिले के ग्राम पिहरिद के बोरवेल में लगभग 65 फीट नीचे गिरे राहुल को सफलतापूर्वक रेस्क्यू ऑपरेशन कर निकालने और उसके इलाज के लिए मुख्यमंत्री द्वारा किए गए प्रयासों के प्रति आभार प्रकट करने के लिए रविवार को राहुल के परिजन और जांजगीर-चांपा के सैकड़ो ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की।
मुख्यमंत्री ने इस मौके पर बड़ी घोषणा करते हुए राहुल के स्पीच थैरेपी और उसकी शिक्षा की सम्पूर्ण जिम्मेदारी उठाने की बात कही है। साथ ही राहुल के परिवार की आर्थिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए 5 लाख रूपए की आर्थिक मदद करने की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री ने राहुल के परिजन को रोजगार देने के भी निर्देश दिए।
गौरतलब है कि 105 घंटे के सफल रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद राहुल को बोरवेल से बाहर निकाल लिया गया था। इसके बाद ग्रीन कारीडोर बनाकार राहुल को उपचार हेतु बिलासपुर के अपोलो अस्पताल में भर्ती किया गया था।
मुख्यमंत्री के प्रति कृतज्ञता जाहिर करते हुए राहुल की मां गीता देवी ने कहा कि आपने अपना बेटा समझ कर राहुल की जान बचाई है। इसके लिए मैं और मेरा परिवार जीवन भर आपका आभारी रहेगा।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने राहुल के बारे में सूचना मिलते ही अधिकारियों को  निर्देश दे दिए थे कि बचाव कार्य में कोई कमी नहीं रहनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि उन्होंने राहुल की दादी को भरोसा दिलाया था कि उसका नाती सुरक्षित बाहर आएगा। श्री बघेल ने कहा कि जब भी हम सामूहिक प्रयास करते है तो उसमें सफलता जरूर मिलती है और राहुल को बचाने के लिए तो हर एक ने धैर्यपूर्वक और दिन-रात  मेहनत की। बघेल ने कहा कि 105 घंटे तक पत्थर, चट्टान को काटकर राहुल को बाहर निकालने का कार्य कठिन था लेकिन राहुल को बचाने में लोगों की दुआ और ईश्वर की कृपा भी शामिल है।
मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि बोरवेल से निकालने के बाद अस्पताल में इलाज कराना दूसरी चुनौती थी और इसके लिए उन्होेंने एयर एम्बुलेंस के साथ ही देश के कुशल डॉक्टरों को भी तैयार रखा था। बघेल ने कहा कि राहुल जिंदगी की जंग पहले बोरवेल में लड़ा और फिर अस्पताल में।
इस मौके पर मुख्यमंत्री निवास कार्यालय परिसर में राहुल के परिजन ने मुख्यमंत्री का सम्मान किया। साथ ही जांजगीर-चांपा से आए ग्रामीणों और जनप्रतिनिधियों ने भी राहुल के मामले में मुख्यमंत्री की संवेदनशीलता की प्रशंसा करते हुए उन्हें धन्यवाद ज्ञापित किया।

भाई का शव लेकर सड़क किनारे बैठा रहा, मासूम

भाई का शव लेकर सड़क किनारे बैठा रहा, मासूम

मनोज सिंह ठाकुर 
मुरैना। मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में रविवार को अजीबो-गरीब वाकया हुआ। यहां एक 8 साल का मासूम अपनी गोद में दो साल के भाई का शव लेकर सड़क किनारे बड़ी देर तक बैठा रहा। उसे यह इसलिए करना पड़ा। क्योंकि, अस्पताल से भाई के शव को ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिली। उसके पिता एंबुलेंस का इंतजाम करने कहीं और गए थे। आर्थिक स्थिति अच्छी न होने से से पिता को कई जगह भटकना पड़ा, लेकिन एंबुलेंस नहीं मिली। इस बीच कोतवाली टीआई योगेंद्र सिंह जादौन की नजर बच्चे पर पड़ी तो उन्होंने शव को अस्पताल भी भिजवाया और एंबुलेंस की व्यवस्था भी की।
गौरतलब है कि अंबाह के बड़फरा गांव के रहने वाले पूजाराम जाटव के दो साल के बेटे राजा की तबीयत बिगड़ गई थी। वह पहले उसे अंबाह के अस्पताल ले गए। यहां प्राथमिक उपचार के बाद राजा को मुरैना के जिला अस्पताल रेफर किया गया। यहां डॉक्टरों ने बच्चे की जांच की तो पता चला कि उसे एनीमिया है और पेट में पानी भर गया है कुछ देर बाद राजा की मौत हो गई। ये देख पिता के होश उड़ गए। उस दौरान उनके साथ 8 साल का बेटा गुलशन भी था। चूंकि, राजा को अंबाह से लेकर आई एंबुलेंस उन्हें छोड़कर तत्काल लौट गई तो पूजाराम को दूसरी एंबुलेंस का इंतजाम करना था।
उन्होंने बेटे के शव को ले जाने के लिए जिला अस्पताल के डॉक्टर और स्टाफ से वाहन देने की बात कही। लेकिन, अस्पताल के सभी लोगों ने यह कहकर मना कर दिया कि शव ले जाने के लिए अस्पताल में कोई वाहन नहीं है, बाहर भाड़े से गाड़ी कर लो। पूजाराम ने जब अस्पताल परिसर में खड़ी एंबुलेंस के संचालक से पूछा तो उसने डेढ़ हजार रुपये मांगे। ये रकम पूजाराम के लिए बहुत ज्यादा थी। इसलिए वह गुलशन और बेटे का शव लेकर बाहर आ गया। उसे अस्पताल के बाहर भी कोई वाहन नहीं मिला। इसके बाद पूजाराम ने गुलशन को नेहरू पार्क के सामने नाले के पास बैठाया और राजा का शव उसकी गोद में रखकर सस्ती एंबुलेंस तलाशने चला गया।

परीक्षाओं का आयोजन, 15 जुलाई से शुरू होगा

परीक्षाओं का आयोजन, 15 जुलाई से शुरू होगा

अकांशु उपाध्याय
नई दिल्ली। कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट/सीयूईटी यूजी परीक्षाओं का आयोजन 15 जुलाई, 2022 से शुरू कर दिया जाएगा। परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र भी अब कभी भी जारी हो सकते हैं। ऐसे में अब जब परीक्षा में अब कुछ ही दिन शेष बचे हैं, तो छात्रों को जरूरत है सही दिशा में तैयारी की। सीयूईटी परीक्षा पहली बार आयोजित की जा रही है। सभी छात्रों को अब भी आशंका है कि परीक्षा में किस स्तर के प्रश्न आएंगे। ऐसे में हम लेकर आए हैं छात्रों के लिए परीक्षा से कुछ दिन पहले तैयारी के जरूरी टिप्स, जिनका पालन कर के छात्र सही दिशा में तैयारी कर सकते हैं और परीक्षा में बेहतरीन प्रदर्शन भी कर सकेंगे।
सीयूईटी का आयोजन पहली बार किया जा रहा है। इस कारण छात्रों को इसके बीते वर्षों के प्रश्न आदि नहीं मिल पाएंगे। हालांकि, छात्रों की इस समस्या के समाधान के लिए राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी ने पहले ही सिलेबस की जानकारी दे दी है। छात्र इसे पढ़ें और परीक्षा के बारे में अच्छे से समझ लें।
कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट में भाग ले रहे छात्रों के लिए आखिरी समय में समय प्रबंधन करना बेहद आवश्यक है। अपनी पढ़ाई को उसी अनुसार करें। सभी विषयों/सेक्शन को बराबर का महत्व देते हुए अपने परीक्षा की तैयारी को आगे बढ़ाएं। सभी सेक्शन के लिए एक समय और गोल तय करें।
चूंकि अब CUET UG 2022 में कुछ ही दिन शेष है। ऐसे में छात्र सभी सेक्शन के रीविजन पर ध्यान दें। अब कोई भी नया टॉपिक शुरू करने से बचें। जो पढ़ा है उसे रिवाइज करने में ज्यादा से ज्यादा समय बिताएं। ताकि परीक्षा में बेहतरीन प्रदर्शन कर सकें।
परीक्षा से पहले कुछ दिनों में छात्रों के लिए सबसे बेहतर विकल्प मॉक टेस्ट या प्रैक्टिस सेट लगाना ही हो सकता है। छात्र रिविजन के साथ-साथ जितना अधिक हो सके मॉक टेस्ट को सॉल्व करने की कोशिश करें। ध्यान रहे कि परीक्षा में पढ़ाई के साथ-साथ सवालों को सॉल्व करने का तरीका भी बहुत मायने रखता है। मॉक टेस्ट की मदद से आप अपनी तैयारियों को अधिक से अधिक बेहतर बना सकते हैं। एनटीए ने अपनी वेबसाइट पर भी सीयूईटी परीक्षा के मॉडल सेट को अपलोड कर रखा है। छात्र इसे डाउनलोड कर के परीक्षा के पैटर्न को अच्छे से समझ सकते हैं।

लोगों के लिए भारी कठिनाईयां और विपत्ति पैदा की

लोगों के लिए भारी कठिनाईयां और विपत्ति पैदा की 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने श्रीलंका में बदलती राजनीतिक स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए रविवार को कहा कि पार्टी वहां की गतिविधियों पर बारीकी से नजर रखे हुए है। गांधी ने यहां जारी एक बयान में कहा कि श्रीलंका में आर्थिक चुनौतियों, बढ़ती कीमतों और भोजन, ईंधन तथा आवश्यक वस्तुओं की कमी ने लोगों के लिए भारी कठिनाईयां और विपत्ति पैदा कर दी है।
पार्टी गंभीर संकट की इस घड़ी में श्रीलंका और वहां के लोगों के साथ एकजुटता व्यक्त करती है। उम्मीद है कि श्रीलंका इन विपरीत परिस्थितियों से उबरने में सक्षम साबित होगा। उन्होंने कहा, “हम आशा करते हैं कि भारत, श्रीलंका के लोगों और वहां की सरकार को इन कठिन परिस्थितियों से निपटने में सहायता करना जारी रखेगा। कांग्रेस पार्टी अंतरराष्ट्रीय समुदाय से भी श्रीलंका को हर संभव सहायता और समर्थन देने का आग्रह करती है।

सरकार ने लोगों के हितों को चोट पहुंचाई: कांग्रेस

सरकार ने लोगों के हितों को चोट पहुंचाई: कांग्रेस 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। कांग्रेस ने रविवार को कहा कि केंद्र सरकार ने आदिवासियों के जल-जंगल पर अधिकारों को संरक्षित तथा सुरक्षित करने वाले नियमों में कुछ लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए बदलाव करके अनुसूचित जनजाति के लोगों के हितों को चोट पहुंचाई है। लेकिन, पार्टी संसद के मानसून सत्र में सरकार की इस मनमानी को चुनौती देगी।
कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख जयराम रमेश ने यहां जारी एक बयान में कहा कि मोदी सरकार आदिवासी विरोधी है और उसने मनमाने ढंग से अनुसूचित जन जाति के लोगों को निजी और सामुदायिक स्तर पर भूमि और आजीविका के अधिकार प्रदान करने वाले नियम बदल कर उनके अधिकारों को खत्म करने का काम किया है।
रमेश ने कहा कि जनजाति और अन्य पारंपरिक वनवासियों को वन अधिकारों की मान्यता देने वाला अधिनियम 2006 में बना और यह एक ऐतिहासिक और सर्वाधिक प्रगतिशील कानून है जिसे संसद ने सर्वसम्मति से पारित किया था। यह कानून वन क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासी, दलित और अन्य को व्यक्तिगत और सामुदायिक दोनों स्तर पर भूमि एवं आजीविका के अधिकार प्रदान करता है।
अगस्त 2009 में कानून के अक्षरशः अनुपालन के लिए पर्यावरण और वन मंत्रालय ने एक परिपत्र जारी किया जिसमें व्यवस्था की गई कि वन भूमि के अन्यत्र उपयोग के लिए मंजूरी पर तब तक नहीं दी जाएगी जब तक वन अधिकार अधिनियम 2006 के अंतर्गत प्रदत्त अधिकारों का सर्वप्रथम निपटान नहीं कर लिया जाता है। उन्होंने कहा कि हाल ही में मोदी सरकार ने इस नियमों में मनमाना बदलाव किया है जिनके तहत केंद्र सरकार द्वारा अंतिम रुप से वन मंजूरी मिलने के बाद वन अधिकारों के निपटारे की अनुमति दी है।
इसका मकसद चुनिंदा लोगों के लिए ‘व्यापार को आसान बनाना’ है। यह निर्णय आदिवासी समुदाय के ‘जीवन की सुगमता’ को समाप्त करने वाला है और इसके जरिये वन भूमि के अन्यत्र उपयोग में तेजी लाने के लिए राज्य सरकारों पर केंद्र की ओर से ज्यादा दबाव बनाया जा सकेगा।
रमेश ने कहा कि वन संरक्षण अधिनियम 1980 को वन अधिकार अधिनियम, 2006 के अनुरूप लागू करना सुनिश्चित करने के संसद द्वारा सौंपे गए उत्तरदायित्व को सरकार ने खत्म करके नए नियमों को संबंधित मंत्रालयों से संबंधी संसद की स्थायी समितियों सहित अन्य संबद्ध हितधारकों से बिना कोई विचार विमर्श किए नियम लागू कर दिए हैं लेकिन इन नियमों को संसद के आगामी सत्र में चुनौती दी जाएगी।

पार्टी की तस्वीरें शेयर, जमकर तारीफ की: पूजा

पार्टी की तस्वीरें शेयर, जमकर तारीफ की: पूजा 

अकांशु उपाध्याय/कविता गर्ग 
नई दिल्ली/मुंबई। टीवी के सबसे पॉपुलर धार्मिक सीरियल में से एक ‘देवो के देव महादेव’ आज भी दर्शकों के दिल के काफी करीब है। इस शो में किरदार निभाने वाले एक्टर्स को फैंस ने फर्श से अर्श पर बिठा दिया था, बात चाहे मौनी रॉय की हो, मोहित रैना या फिर पार्वती का रोल प्ले करने वाली पूजा बनर्जी की। दर्शक आज भी इनकी एक झलक के लिए बेकरार रहते हैं। पर्दे पर हमेशा ही ट्रेडिशनल आउटफिट में नजर आने वाली पूजा रियल लाइफ में काफी बोल्ड हैं। इस बात का अंदाजा उनके सोशल मीडिया प्रोफाइल से ही हो जाता है। हाल ही में पूजा ने एक पार्टी की तस्वीरें शेयर कीं, जिसमें वो काफी ग्लैमर्स नजर आ रही हैं।
देवों के देव में माता पार्वती का किरदार निभाने वाली पूजा बनर्जी की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस फोटो में उन्होंने एक छोटी सी ड्रेस पहनी, जोकि काफी टाइट फिट है। पूजा के बॉडी कर्व्स साफ नजर आ रहे हैं। खुले बाल और हाई हिल्स में वो बस कयामत लग रही हैं। इसके साथ उन्होंने लाइट पार्टी मेकअप किया है। न्यूड लिप शेड उनकी खूबसूरती में और भी चार चांद लगा रहा है। फैंस अपनी फेवरेट एक्ट्रेस के फोटो पर जमकर रिएक्ट दे रहे हैं।
पूजा की पोस्ट पर उन्होंने कैप्शन में लिखा-  ‘अबाउट लास्ट नाइट’ तो फैंस भी उसने ऐसे ही सवाल पूछ रहे हैं। एक ने लिखा- कुछ ज्यादा ही मस्ती नहीं कर ली आपने। तो दूसरे ने लिखा- ड्रंक हो क्या? एक यूजर जिसके कमेंट ने सबका ध्यान खींच वो था- हाय देवी ये कैसी माया है, प्रभु अत्यंत दुखी होंगे। वहीं कुछ ऐसे भी हैं, जो पूजा के लुक की जमकर तारीफ कर रहे हैं।

अफ्रीका: गोलीबारी की घटना में 14 लोगों की मौंत

अफ्रीका: गोलीबारी की घटना में 14 लोगों की मौंत 

डॉक्टर सुभाषचंद्र गहलोत 
प्रिटोरिया/जोहान्सबर्ग। दक्षिण अफ्रीका की पुलिस ने बताया है कि जोहान्सबर्ग में बार के भीतर भीषण गोलीबारी हुई है। जिसमें 14 लोगों की मौंत हो गई, घटना शहर के सोवेटो टाउनशिप में हुई है। दक्षिण अफ्रीका के एक बार में सामूहिक गोलीबारी की घटना में कम से कम 14 लोगों की मौंत हो गई है। हमलावर आधी रात के बाद जोहान्सबर्ग के सोवेटो के एक बार में घुसे और अंधाधुंध गोलियां चलाने लगे। गोलियां चलाने के बाद बंदूकधारी सफेद रंग की टोयोटा क्वांटम मिनीबस में सवार होकर फरार हो गए।
जानकारी के मुताबिक, 10 अन्य लोग घायल हुए हैं और तीन गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं।घायलों में किशोर भी शामिल हैं। अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।शुरुआती जांच से पता चलता है कि लोग बार में मस्ती कर रहे थे। हमलावर अंदर आए और उन पर बेतरतीब ढंग से गोली चलाने लगे।’ जांचकर्ता मौके पर पहुंच चुके हैं।
मावेला ने बताया, ‘यह घटना रात करीब 12:30 बजे की है।’ उन्होंने कहा कि 12 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और अस्पताल पहुंचने पर एक और शख्स की जान चली गई। भर्ती किए जाने के बाद 14वें शख्स की भी मौत हो गई।मरने वालों की उम्र 19 से 35 साल के बीच है।
ऑरलैंडो पुलिस स्टेशन के कमांडर ब्रिगेडियर नॉनहलानहला कुबेका ने कहा कि अधिक जानकारी जल्द ही जारी की जाएगी। ऑनलाइन पोस्ट की गई भयानक फुटेज में बार में मौज-मस्ती करने वालों के शव फर्श पर पड़े दिख रहे हैं। क्वाज़ुलु-नताल में पीटरमैरिट्सबर्ग बार में एक दिन पहले हुई गोलीबारी में चार लोगों की मौत हो गई थी।
पिछले महीने दक्षिण अफ्रीका के तटीय शहर ईस्ट लंदन के एक नाइट क्लब में रविवार तड़के कम से कम 21 लोगों की मौत हो गई थी। यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि इन किशोरों की मौत किस कारण हुई। ये किशोर कथित तौर पर स्कूल की परीक्षा खत्म होने का जश्न मनाने के लिए क्लब गए थे। रिपोर्ट के अनुसार, शव मेज तथा कुर्सियों के पास मिले। शवों पर चोट के कोई निशान नहीं थे।

मुलायम की पत्नी साधना का अंतिम दर्शन, श्रद्धांजलि

मुलायम की पत्नी साधना का अंतिम दर्शन, श्रद्धांजलि

संदीप मिश्र 
लखनऊ। उत्तर-प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना यादव की पार्थिव देह के अंतिम दर्शन के लिए भारी संख्या में सपा कार्यकर्ता पहुंचे हैं। मुलायम सिंह के आवास पर साधना का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी मुलायम सिंह यादव के आवास पर पहुंचकर उनकी पत्नी साधना का अंतिम दर्शन किया और अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर वरिष्ठ नेता शिवपाल यादव, डिम्पल यादव और अर्पणा यादव मौजूद रहीं। मुलायम सिंह की पत्नी साधना का निधन शनिवार को गुरूग्राम स्थित मेदांता हास्पिटल में हो गया था। अंतिम संस्कार आज लखनऊ में होगा। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उ.प्र. के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना का निधन अत्यंत दु:खद है। प्रभु श्री राम दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान व उनके परिजनों को यह दु:ख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। अंतिम दर्शन करने पहुंचे पूर्व उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि साधना गुप्ता का जाना अपूरणीय क्षति है। वह गरीबों की सेवा के लिए तत्पर रहती थीं। मुलायम सिंह यादव की पत्नी के अंतिम दर्शन करने सपा के वरिष्ठ नेता राम गोविन्द चौधरी, पूर्व मंत्री अवधेश प्रसाद,उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक, पूर्व मंत्री मोहसिन रजा समेत तमाम नेता मुलायम सिंह के आवास पहुंचें थे।

प्राकृतिक खेती पर आयोजित सम्मेलन, संबोधित किया

प्राकृतिक खेती पर आयोजित सम्मेलन, संबोधित किया

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी
नई दिल्ली/सूरत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि प्राकृतिक खेती को अपनाने संबंधी जन-अभियान आने वाले वर्षों में काफी सफल रहेगा और जितनी जल्दी किसान इस बदलाव से जुड़ेंगे, उतने ही उन्हें उसके फायदे मिलेंगे। प्रधानमंत्री ने गुजरात के सूरत में प्राकृतिक खेती पर आयोजित एक सम्मेलन को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संबोधित करते हुए कहा, ‘‘प्राकृतिक खेती को अपनाना धरती माता की सेवा करने के समान है।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि डिजिटल भारत अभियान की अभूतपूर्व सफलता उन लोगों को देश की ओर से जवाब है जो कहा करते थे कि गांवों में बदलाव लाना आसान नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘ प्राकृतिक खेती से जुड़ा जन-अभियान आने वाले वर्षों में बेहद सफल होगा।
जितनी जल्दी किसान इससे जुड़ेंगे, उतनी जल्दी ही उन्हें इसके फायदे मिलेंगे।’’ प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि प्राकृतिक खेती को अपनाना, मिट्टी की गुणवत्ता और उत्पादकता की सुरक्षा करके धरती माता की सेवा करने के समान है। उन्होंने कहा, ‘‘जब आप प्राकृतिक कृषि करते हैं तो आप प्रकृति और पर्यावरण की सेवा कर रहे होते हैं।’

प्रतिबंध: डीपीसीसी ने नियंत्रण कक्ष स्थापित किया

प्रतिबंध: डीपीसीसी ने नियंत्रण कक्ष स्थापित किया 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) ने 19 चिह्नित एकल-उपयोग प्लास्टिक (एसयूपी) वस्तुओं पर प्रतिबंध के कार्यान्वयन की निगरानी के लिए एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है और सोमवार से इसका उल्लंघन करने वाली इकाइयों को बंद करना शुरू कर देगी। यह जानकारी अधिकारियों ने दी। एक अधिकारी ने रविवार को कहा कि नियंत्रण कक्ष एसयूपी प्रतिबंध के उल्लंघन से संबंधित सभी शिकायतें प्राप्त करेगा और प्रवर्तन टीमों को कार्रवाई करने का निर्देश देगा।
उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि डीपीसीसी का अधिदेश एसयूपी वस्तुओं के निर्माण को नियंत्रित रखना है, लेकिन बाजारों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर प्रतिबंध के उल्लंघन से संबंधित शिकायतें भी हमारे नियंत्रण कक्ष को भेजी जा सकती हैं। हम इसे संबंधित नगर निकायों को भेज देंगे।’’ उल्लंघन के संबंध में शिकायतें दिल्ली सरकार के ‘ग्रीन दिल्ली’ ऐप्लीकेशन या केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के “एसयूपी-सीपीसीबी” एप्लीकेशन के माध्यम से भी दर्ज करायी जा सकती हैं।
अधिकारी ने कहा, ‘‘हम कानून के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत सोमवार से प्रतिबंध का उल्लंघन करने वाली इकाइयों को बंद करना शुरू कर देंगे। और कोई चेतावनी नहीं दी जाएगी।’’ एक जुलाई को दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा था कि दिल्ली सरकार एकल उपयोग वाली प्लास्टिक (एसयूपी) की 19 वस्तुओं पर प्रतिबंध का उल्लंघन करने वाली इकाइयों को 10 जुलाई तक चेतावनी नोटिस जारी करेगी और इसके बाद फिर से ऐसा करने वालों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।
उन्होंने कहा था, ‘‘प्रतिबंध का उल्लंघन करने पर पर्यावरण संरक्षण अधिनियम, 1986 के तहत एक लाख रुपये तक का जुर्माना या पांच साल तक की जेल या दोनों हो सकते हैं।’’ उन्होंने कहा था कि हालांकि, सरकार एसयूपी वस्तुओं के उपयोग के खिलाफ जागरूकता पैदा करने और लोगों को उनके विकल्प प्रदान करने को सर्वोच्च प्राथमिकता देगी। राजस्व विभाग और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति ने प्रतिबंध को लागू करने के लिए क्रमशः 33 और 15 टीमों का गठन किया है।
डीपीसीसी को उसके अनुरूप क्षेत्रों में प्रतिबंध का अनुपालन सुनिश्चित करना है, जबकि एमसीडी और अन्य स्थानीय निकाय अनौपचारिक क्षेत्र में इसके कार्यान्वयन के लिए जिम्मेदार हैं। एमसीडी और अन्य शहरी स्थानीय निकाय अपने उपनियमों के अनुसार चूक करने वाली इकाइयों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे, जबकि राजस्व विभाग पर्यावरण संरक्षण अधिनियम के तहत कार्रवाई करेगा।
प्रवर्तन अभियान के दौरान जब्त की गयी एसयूपी चीजों को ‘अपशिष्ट से ऊर्जा’ बनाने वाले संयंत्रों में भस्म कर दिया जाएगा ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे लैंडफिल या रुके हुए जल निकायों में नहीं जाएं।

3 सदस्यीय आयोग के गठन का स्वागत किया: इकाई

3 सदस्यीय आयोग के गठन का स्वागत किया: इकाई

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई ने यहां नगर निगम वार्ड के परिसीमन के लिए तीन सदस्यीय आयोग के गठन का स्वागत किया और कहा कि वह लोकतांत्रिक राजनीति में विश्वास रखती है। वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि जब राष्ट्रीय राजधानी में वार्ड की संख्या निर्धारित नहीं है तो समिति किस आधार पर काम करेगी।
आम आदमी पार्टी (आप) ने परिसीमन आयोग के गठन को छलावा करार दिया और आरोप लगाया कि यह नगर निकाय चुनाव टालने के लिए भारतीय जनता पार्टी नीत केंद्र सरकार का एक और “पैंतरा” है। कांग्रेस की दिल्ली इकाई ने आप और भाजपा पर दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव टालने का आरोप लगाया और परिसीमन की प्रक्रिया से असहमति जताई। पार्टी ने कहा कि नगर निकाय के चुनाव होने चाहिए ताकि आम जनता का कामकाज प्रभावित नहीं हो।
दिल्ली नगर निगम की ओर से शनिवार को जारी एक बयान के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दिल्ली में एमसीडी के वार्ड के लिए नई परिसीमन प्रक्रिया के वास्ते तीन सदस्यीय आयोग गठित किया है। इस प्रक्रिया से दिल्ली में नगर निकाय के चुनाव का मार्ग प्रशस्त होगा। शहर के तीन नगर निगमों को हाल में एकीकृत किये जाने के बाद पहली बार निकाय चुनाव होंगे। मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, “हमें खुशी है कि केंद्र सरकार ने एमसीडी के वार्ड परिसीमन के लिए समिति का गठन कर दिया।
लेकिन दिल्ली में कितने वार्ड होंगे, इस बारे में कोई आदेश नहीं दिया। फिर ये समिति काम कैसे करेगी?” राजेंद्र नगर से आम आदमी पार्टी के विधायक दुर्गेश पाठक ने समिति के गठन को “छलावा” करार दिया। उन्होंने ट्वीट किया, “यह आदेश बस एक छलावा है। केंद्र सरकार को सबसे पहले यह तय करना है कि दिल्ली में कितने वार्ड होंगे, उसके बाद इस आयोग का काम शुरू होगा।
बिना वार्ड की संख्या तय किए यह आयोग काम कैसे करेगा?” वहीं, भाजपा की दिल्ली इकाई ने एक बयान में कहा, “उन्हें झूठ बोलना बंद कर देना चाहिए और समझदारी से बात करनी चाहिए क्योंकि वह (केजरीवाल) मुख्यमंत्री के पद पर हैं।
भाजपा लोकतांत्रिक राजनीति में विश्वास रखती है और जल्द ही तय प्रक्रिया पूरी करने के बाद निर्वाचित एमसीडी का गठन किया जाएगा।” दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अनिल कुमार ने कहा कि तीन सदस्यीय आयोग को सभी दलों के साथ नियमों पर चर्चा करनी चाहिए और परिसीमन की प्रक्रिया शुरू करने से पहले उन्हें विश्वास में लेना चाहिए।

उत्तराखंड: पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी किए

उत्तराखंड: पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी किए 

पंकज कपूर
देहरादून। प्रदेश में पेट्रोल-डीजल के दामों में उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। उत्तराखंड में पेट्रोल और डीजल के नए रेट जारी कर दिए गए हैं। आज देहरादून में पेट्रोल में 40 पैसे की कमी और डीजल के दाम में 1.35 पैसे की कमी देखी गई है। ऐसे में देहरादून में आज पेट्रोल ₹ 94.95 प्रति लीटर और डीजल ₹88.99 प्रति लीटर बिक रहा है।
गौरतलब हो, कि पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी हो गए हैं। हर दिन सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। पिछले कई दिनों से प्रदेश में तेल की कीमतें में उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन, वैट और अन्य चीजें जोड़ने के बाद दामों में इजाफा होता है। यही कारण है कि पेट्रोल-डीजल के दाम ज्यादा नजर आते हैं।
वहीं, हरिद्वार में आज पेट्रोल में 2 पैसे और डीजल के दाम में 2 पैसे की बढ़ोत्तरी देखी गई है। हरिद्वार में पेट्रोल के दाम ₹94.37 प्रति लीटर और डीजल के दाम ₹ 89.48 रुपए प्रति लीटर हैं।

वित्त वर्ष 2022-23 में 15 खनिज ब्लॉकों की नीलामी रद्द

वित्त वर्ष 2022-23 में 15 खनिज ब्लॉकों की नीलामी रद्द 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। मौजूदा वित्त वर्ष 2022-23 में 15 खनिज ब्लॉकों की नीलामी रद्द हुई है। जबकि 32 खानों की बिक्री को सफलतापूर्वक पूरा किया गया है। हालांकि, इन ब्लॉकों की नीलामी रद्द करने की कोई वजह नहीं बताई गई है। जिन खानों की नीलामी रद्द हुई है। उनमें पांच-पांच चूना पत्थर और मैंगनीज ब्लॉक, दो-दो बॉक्साइट और फॉस्फोराइट ब्लॉक और एक सोने की खान है।
खान मंत्रालय ने खनिज ब्लॉकों की नीलामी पर स्थिति रिपोर्ट में कहा है कि चालू वित्त वर्ष में सात जून, 2022 तक जिन खानों की नीलामी रद्द की गई है। उनमें 11 मध्य प्रदेश में, दो-दो छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश में हैं। जिन 32 ब्लॉकों की नीलामी सफलतापूर्वक पूरी की गई है उनमें 10 मैंगनीज खानें, आठ चूना पत्थर, सात लौह अयस्क, पांच बॉक्साइट और एक-एक ग्रैफाइट और फॉस्फोराइट खानें हैं।
चालू वित्त वर्ष में अबतक मध्य प्रदेश में 10 खनिज ब्लॉकों की नीलामी हुई है। आंध्र प्रदेश में आठ, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक में चार-चार, महाराष्ट्र और ओडिशा में दो-दो और राजस्थान और उत्तर प्रदेश में एक-एक खान की नीलामी हुई है। सरकार ने इससे पहले कहा था कि देश में खनिज ब्लॉकों की नीलामी में अब स्थिरता आई है। वित्त वर्ष 2021-22 में कुल 46 खनिज ब्लॉकों की नीलामी की गई थी। पिछले सात साल के दौरान सरकार ने महत्वपूर्ण सुधार लागू करते हुए खनिज क्षेत्र को खोला है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन 

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  

1. अंक-275, (वर्ष-05)
2. सोमवार, जुलाई 11, 2022
3. शक-1944, आषाढ़, शुक्ल-पक्ष, तिथि-द्वादशी, विक्रमी सवंत-2079।
4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:15।
5. न्‍यूनतम तापमान- 30 डी.सै., अधिकतम-37+ डी.सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन

अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन  अविनाश श्रीवास्तव  चक्की। प्रखंड की अरक पंचायत में वार्षिक आम सभा का आयोजन किया गया। जि...