सोमवार, 15 जून 2020

डीएम ने गेहूं क्रय केंद्र का किया निरीक्षण

कौशाम्‍बी मे ऐतिहासिक निर्माणाधीन म्यूजियम का निरीक्षण जिलाधिकारी ने किया

पश्चिमशरीरा/कौशाम्बी। जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा सोमवार को जनपद का भ्रमण कर ऐतिहासिक स्थल कौशाम्‍बी मे निर्माणाधीन मियूजियम का निरीक्षण किया |इसके बाद कौशाम्‍बी ब्लाक के जगन्नाथ पुर गांव मे हो रहे तालाब की खुदाई का भी निरीक्षण कर ग्राम प्रधान और पंचायत मंत्री को आवश्यक निर्देश दिए |मजदूरो का भुगतान को समय पर खाते के जरिए देने को कहा है |विजिया चौराहा मे हाट शाखा के गेहूं क्रय केन्द्र का निरीक्षण कर खरीद बढाने का निर्देश दिया और तीस जून तक गेहूँ खरीद का लक्ष्य हर हाल मे पूरा करने को निर्देशित किया |लक्ष्य पूरा करने के लिए किसानो के घर घर जाकर गेंहूं खरीद करने का प्रयास करे |इसके बाद जिलाधिकारी कलेक्ट्रेट मे बने कोविड -19 कट्रोल रूम का भ्रमण कर वहा की व्यवस्था को देखा और आवश्यक निर्देश दिए |उन्होने कहा कोविड -19 से सम्बंधित कोई सूजना आए तो उसे गम्भीरता से लिया जाए और पर आवश्यक कदम उठाया जाए|

पुष्पेश त्रिपाठी

नेपाल-भारत से रोटी-बेटी का रिश्ता

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नेपाल के विवादित नक्शे के कारण दोनों देशों के बीच उत्पन्न हुए मतभेद के बीच अहम बयान दिया है। उन्होंने भारत और नेपाल के संबंधों को ‘रोटी-बेटी’ का रिश्ता बताते हुए कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत इस रिश्ते को तोड़ नहीं सकती है।


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीयों के मन में कभी भी नेपाल को लेकर किसी भी प्रकार की कटुता पैदा हो ही नहीं सकती है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को उत्तराखंड की वर्चुअल रैली को संबोधित करते हुए कहा, “हमारे साथ नेपाल का गहरा संबंध है। हम मिल बैठकर इन सब समस्याओं का समाधान करेंगे।”रक्षा मंत्री ने गोरखा रेजिमेंट की बहादुरी की चर्चा करते हुए कहा कि रेजीमेंट ने समय-समय पर अपने शौर्य का परिचय दिया है। रेजिमेंट का उद्घोष है कि ‘जय महाकाली आयो री गोरखाली’। महाकाली तो कलकत्ता, कामाख्या और विंध्यांचल में विद्यमान हैं। तो कैसे भारत और नेपाल का रिश्ता टूट सकता है।


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हमारे पड़ोसी देश नेपाल में सड़क को लेकर कुछ गलतफहमियां पैदा हुई हैं। नेपाल के साथ हमारे केवल सामाजिक, भौगोलिक, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक रिश्ते ही नहीं, बल्कि आध्यात्मिक रिश्ते भी हैं। मगर सभी गलतफहमियां साथ बैठकर सुलझा ली जाएंगी।


राजनाथ सिंह ने मानसरोवर यात्रा की मुश्किलें कम होने की भी चर्चा की। कहा कि बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन ने लिपुलेख तक एक लिंक रोड का निर्माण किया, जिससे मानसरोवर जाने के लिए एक नया रास्ता खुल गया। पहले यात्रा के मुकाबले अब 6 दिन कम समय में मानसरोवर की यात्रा होगी। उन्होंने उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार का गुणगान करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ भी राज्य सरकार ने जीरो टॉरलेंस की नीति अपनाई है। गैरसैंण को उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाया गया है। राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश की दुनिया में प्रतिष्ठा बढ़ने की बात कही।


उन्होंने कहा, “पिछले छह वर्षों में मोदी जी के नेतृत्व में हमारे देश ने बहुत प्रगति की है। अंतरराष्ट्रीय जगत में भी भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है। पीएम मोदी के नेतृत्व में भाजपा सरकार के छह वर्ष पूरे हुए हैं। पांच वर्षों में लगातार जनता के बीच सरकार के कामों का रिपोर्ट कार्ड लेकर गए। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला वर्ष पूरे होने पर हम जनता से सीधा संवाद स्थापित कर रहे हैं।”


पदार्थ की पांचवी अवस्था के मिले प्रमाण

मदन साहू
नई दिल्ली। वैज्ञानिकों को पहली बार अंतरिक्ष में पदार्थ की पांचवी अवस्था के सबूत मिले हैं। उनका मानना है कि इसके जरिए ब्रह्मांड की गुत्थियों को सुलझाया जा सकता है और इसकी उत्पत्ति का भी पता लगाया जा सकता है। भारतीय वैज्ञानिक सत्येंद्र नाथ बोस और अल्बर्ट आइंस्टीन ने पदार्थ की इस अवस्था के बारे में 100 साल पहले 1920 में बताया था। इसलिए इसे बोस-आइंस्टाइन कंडेनसेट्स (बीईसी) भी कहते हैं। यह प्रयोग अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (आईएसएस) में किया गया है।


●  जाने कब बनती है पदार्थ की पांचवीं अवस्था।


पदार्थ की यह अवस्था तब बनती है, जब किसी तत्व के परमाणुओं को परम शून्य ( जीरो डिग्री केल्विन या माइनस 273.15 डिग्री सेल्सियस) तक ठंडा किया जाता है। इसके चलते उस तत्व के सारे परमाणु मिलकर एक हो जाते हैं यानी सुपर एटम बनता है। इसे ही पदार्थ की पांचवी अवस्था कहते है। किसी भी पदार्थ में उसके परमाणु अलग-अलग गति करते हैं, लेकिन पदार्थ की पांचवी अवस्था में एक ही बड़ा परमाणु होता है और इसमें तरंगे उठती हैं।


●  बीईसी का धरती पर अध्ययन है असंभव।
         वैज्ञानिकों ने बताया कि बीईसी बेहद संवेदनशील है। अगर उसकी अवस्था से थोड़ी भी छेड़छाड़ की जाती है तो वे गर्म हो सकते हैं, क्योंकि वे हमेशा परम शून्य तापमान पर होते हैं। थोड़ा सा भी गर्म होने पर पदार्थ की पांचवीं अवस्था खत्म हो जाएगी। इस वजह से पृथ्वी पर इनका अध्ययन लगभग असंभव है।
●   बीईसी में अंतरिक्ष की रहस्यमयी डार्क एनर्जी के बारे में जानकारी छुपी हुई है वैज्ञानिकों का ये है मानना...
          वैज्ञानिक ब्रह्मांड के फैलाव के पीछे इस डार्क एनर्जी को ही मानते हैं। इस रिसर्च को नेचर जर्नल में प्रकाशित किया गया है।
●  इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर किया गया प्रयोग।
       वैज्ञानिकों ने बताया कि आईएसएस में पदार्थ का पांचवीं अवस्था बनाना कोई आसान काम नहीं था। पहले बोसोन (ऐसे परमाणु, जिनमें प्रोटान और इलेक्ट्रान बराबर हो) को लेजर तकनीक से परम शून्य तापमान तक ठंडा किया जाता है। जैसे-जैसे परमाणुओं की गति धीमी होती है, वे ठंडे होने लगते हैं। वैज्ञानिकों ने रूबीडियम धातु से बीईसी बनाया।
●  अभी तक पदार्थ की चार अवस्थाएं ही थी ज्ञात...
        पदार्थ की चार अवस्थाएं होती हैं, ठोस, द्रव, गैस और प्लाज्मा. जिसमें प्लाज्मा गैसीय अवस्था ही होती है, लेकिन यह आयनित होती है। बताया जाता है कि तारे प्लाज्मा से ही बने होते हैं। तथा ब्रह्मांड में 96% प्लाज्मा ही है।


करोड़ों के घोटालें पर एसआईटी का शिकंजा

देहरादून। उत्तराखंड से बड़ी खबर सामने आई है जहां लॉकडाउन के बाद एक बार फिर से सक्रिय हुई एसआईटी ने देहरादून और हरिद्वार जिले में मुकदमें दर्ज कराए। ख़बर है कि 10 करोड़ से अधिक डकारे पश्चिमी यूपी, हिमाचल और उत्तराखंड के इन शिक्षण संस्थानों ने। एसआईटी ने करोड़ों के छात्रवृत्ति घोटाले में 22 शिक्षण संस्थानों पर शिकंजा कसा है। बता दे कि एसआईटी ने राजधानी देहरादून और हरिद्वार जिले में इन शिक्षण संस्थानों के खिलाफ छात्रवृत्ति हड़पने के आरोप में मुकदमे दर्ज कराए हैं।
आरोप है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के 22 शिक्षण संस्थानों ने छात्रवृत्ति के नाम पर 10.88 करोड़ से अधिक की रकम डकारी है।
जिन छात्रों के फर्जी प्रवेश दिखाकर छात्रवृत्ति हड़पी गई है, एसआईटी अब उन छात्रों के नाम और पते का सत्यापन कर रही है। इसके बाद छात्रों के बयान दर्ज किए जाएंगे। साथ ही छात्रों से उनके दस्तावेजों के बारे में भी जानकारी जुटाई जाएगी।


जान ले इन पर दर्ज हुआ ह मुकदमा


रविवार को एसआईटी की ओर से देहरादून और हरिद्वार के अलग-अलग थानों, कोतवाली में कई मुकदमे दर्ज कराए गए।
देहरादून के बाबा फरीद इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
सुद्धोवाला के खिलाफ प्रेमनगर थाने,
डीआरपीएमई सहारनपुर, डॉ. राजेंद्र प्रसाद पॉलिटेक्निक कॉलेज सुंदरपुर सहारनपुर,
डीसीई कॉलेज ऑफ एजुकेशन सहारनपुर, डीसीईटी सहारनपुर, डीसीटीएस सुंदरपुर सहारनपुर, दून कालेज ऑफ लॉ सहारनपुर, दून कॉलेज गणेशपुर सहारनपुर, मोनंद यूनीवर्सिटी हापुड़, श्रीराम इंस्टीटयूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज सहारनपुर, कालका इंजीनियरिंग कॉलेज मेरठ, कालका इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च एंड एडवांस स्टडीज मेरठ, हिमालयन ग्रुप ऑफ प्रोफेशनल इंस्टीट्यूशन हिमाचल प्रदेश, कृष्णा कॉलेज ऑफ लॉ कमालपुर छुटमलपुर सहारनपुर, ओम संतोष प्राइवेट आईटीआई चक हरीती जनता रोड सहारनपुर के खिलाफ डालनवाला कोतवाली में मुकदमे दर्ज कराए गए हैं।


वहीं, स्वामी विवेकानंद कॉलेज ऑफ एजुकेशन मतलूबपुर रुड़की के खिलाफ गंगनहर कोतवाली, कॉलेज ऑफ एडवांस टेक्नोलॉजी रुड़की के खिलाफ भगवानपुर थाना, रुड़की कॉलेज ऑफ एजुकेशन शेरपुर झबरेड़ा के खिलाफ झबरेड़ा थाना, सरस्वती प्रोफेशनल डिग्री कॉलेज जगजीतपुर जमालपुर कलां के खिलाफ कनखल थाना, डीआरपीएमई सहारनपुर, डीसीई कॉलेज ऑफ एजुकेशन सहारनपुर और दून कॉलेज गणेशपुर सहारनपुर के खिलाफ सिडकुल थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है। एसआईटी प्रभारी मंजूनाथ टीसी ने बताया कि मुकदमों की जांच थाना स्तर से की जाएगी।


यूपी में 11 आईएएस अफसरों का तबादला

लखनऊ। प्रदेश सरकार ने 11 आईएएस व एक पीसीएस अधिकारी को नई तैनाती दी है। इनमें वरिष्ठ आईएएस अधिकारी महेश कुमार गुप्ता राज्यपाल के नए अपर मुख्य सचिव बनाए गए हैं। इसके अलावा विभिन्न तरह की जांच व कार्रवाई के दायरे में आए नौ अफसरों को महीनों तक घर बैठाने के बाद तैनाती दे दी गई है।


कैडर बदलवाकर आए प्रतीक्षारत आईएएस अधिकारी को भी तैनाती दे दी गई है। प्रदेश सरकार ने अपर मुख्य सचिव राज्यपाल हेमंत राव को हटाकर शासन में अपर मुख्य सचिव पिछड़ा वर्ग, दिव्यांगजन व सचिवालय प्रशासन के पद पर तैनाती दी है। अब तक शासन में इन विभागों की जिम्मेदारी देख रहे महेश कुमार गुप्ता को राज्यपाल का अपर मुख्य सचिव बनाया गया है।पत्नी के यूपी काडर में आईपीएस अधिकारी होने के आधार पर मणिपुर काडर से यूपी काडर में आए 2014 बैच के आईएएस अधिकारी रवींद्र सिंह को यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) का एसीईओ बनाया गया है। अवैध खनन पट्टा आवंटन, भूमि विवाद, प्रशासनिक शिथिलता सहित विभिन्न तरह के अलग-अलग आरोपों में सीबीआई, ईडी व विभागीय कार्रवाई का सामना कर रहे कई अधिकारी पिछले कई महीने से वेटिंग में थे। इन सभी को तैनाती दे दी गई है, लेकिन कोई महत्वपूर्ण विभाग नहीं दिया गया है।  पिछले वर्ष अक्तूबर से प्रतीक्षारत अजय कुमार सिंह को सचिव राष्ट्रीय एकीकरण बनाया गया है। जुलाई-2019 से प्रतीक्षारत संतोष कुमार राय को सामान्य प्रशासन, अभय को यूपी पुनर्गठन समन्वय, विवेक को नियोजन, देवीशरण उपाध्याय को अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में विशेष सचिव बनाया गया है। पिछले वर्ष अक्तूबर से प्रतीक्षारत पवन कुमार को भाषा विभाग का विशेष सचिव बनाया गया है।


प्रशांत शर्मा नवंबर, 2019 में अमेठी के डीएम पद से हटाए जाने के बाद से ही प्रतीक्षारत थे। उन्हें वाह्य सहायतित परियोजना विभाग में विशेष सचिव बनाया गया है अक्तूबर-2019 में महराजगंज के जिलाधिकारी पद से निलंबित कर हटाए गए अमर नाथ उपाध्याय पिछले दिनों बहाल कर दिए गए थे। अब उन्हें राजनैतिक पेंशन एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानी विभाग में विशेष सचिव बनाया गया है। वरिष्ठ पीसीएस अधिकारी घनश्याम सिंह दो वर्ष से अधिक समय के निलंबन के बाद पिछले वर्ष दिसंबर में बहाल कर आयुक्त मेरठ कार्यालय से संबद्ध कर दिए गए थे। शासन ने अब घनश्याम को विशेष सचिव कार्यक्रम कार्यान्वयन के पद पर तैनाती दे दी है।


सड़क दुर्घटना में 6 की मौत, 18 घायल

आमस। बिहार में सड़क हादसे में 6 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। इस हादसे में 18 लोग घायल हो गए सभी का हालात नाजुक हैं जिसका ईलाज अस्पताल में जारी हैं। ट्रक और 2 ऑटो में जोरदार टक्कर हो गई। ये घटना गया- आमस हाईवे पर ट्रक- ऑटो में टक्कर हो गई। बताया जा रहा हैं की समारोह से वापस लौट रहे थे परिवार के लोग। थाना प्रभारी ने की सड़क हादसे की पुष्टि।


मौके पर पहुंची पुलिस ने ऑटो से घायलों को निकालकर अस्पताल भेजा है वहीं मृतकों को भी पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा हैं। टक्कर इतनी जोरदार थी कि ऑटो के परखच्चे उड़ गए और कई लोग उसके अंदर ही फंस गए थे। घायलों में कई की स्थिति गंभीर है बनी हुई है।


 गया जिले के आमस इलाके के जीटी रोड़ की घटना है।


जानकारी के मुताबिक औरंगाबाद जिले से तिलक समारोह से एक परिवार के कुछ लोग दो ऑटो पर सवार होकर वापस आ रहा था। इसी दौरान ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दी। ट्रक की टक्कर में दोनों ऑटो के परखच्चे उड़ गए और मौके पर ही 6 लोगों की मौत हो गई। दोनों ऑटो औरंगाबाद के देव से वापस आमस के रेगनिया गांव जा रहे थे। घटना के बाद मौके पर सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गई।


विरोध करने वालों ने पक्ष में खोला मोर्चा

प्रवीर भट्टाचार्य


एक पुरानी कहावत है- खोदा पहाड़ ,निकली चुहिया । यह कहावत बिलासपुर के मंदिर कांड पर पूरी तरह फिट बैठ रही है। रविवार दिन भर भारतीय राष्ट्रवादी संगठन के साथ तमाम हिंदू संगठनों ने जिस अपराधी के लिए हंगामा मचाया, शाम होते होते उनकी सहानुभूति उसी अपराधी के प्रति इस कदर उमड़ पड़ी कि अब वे उसका इलाज कराने पर उनका फोकस ठहर गया हैं । शनिवार रात किसी सरफिरे ने सिम्स के सामने स्थित शिव हनुमान मंदिर की दीवार पर एक पोस्टर चस्पा कर दिया था। पोस्टर में देवी काली की तस्वीर की फोटो कॉपी थी, जिस पर उनके खिलाफ बेहद गंदी गंदी बातें लिखी थी । उनका संबंध अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से जोड़ा गया था। स्वाभाविक तौर पर इसकी जानकारी होने पर बिलासपुर में हंगामा खड़ा हो गया। बात तब और बिगड़ गई जब कार्यवाही के लिए पहुंचे कोतवाली थाना प्रभारी कलीम खान के मजहब को लेकर कुछ लोगों ने सवाल खड़े कर दिए। गुस्सायी पुलिस सब को उठा लाई और उनके खिलाफ धारा 341 और 147 के तहत मामला दर्ज कर दिया।


लेकिन कोतवाली पुलिस ने शाम होते-होते उस आरोपी को भी ढूंढ निकाला, जिसकी वजह से पूरे शहर में बवाल मचा था। यहीं पर आकर वह कहावत सही साबित हो गई, जिसका जिक्र हमने शुरू में किया था। पता चला कि इस इलाके में रहने वाले एक बुजुर्ग मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति ने ही यह हरकत की थी । शुरू में लोगों को लगा कि मामले को रफा-दफा करने के लिए पुलिस निरीह विक्षिप्त को बलि का बकरा बना रही है, लेकिन जब आंदोलनकारी स्वयं थाने पहुंचे और उस उस विक्षिप्त से बात की तो फिर शक की कोई गुंजाइश नहीं बची । उस विक्षिप्त के पास कई और कागज भी मिले, जिस पर इसी तरह की बातें लिखी हुई थी। तसल्ली के लिए उससे अपने सामने वही बातें लिखवाई गई तो हैंडराइटिंग पूरी तरह से मैच कर गयी। उसने बताया कि ऐसा उसने पहली बार नहीं किया। इससे पहले भी वह कई मर्तबा कई मंदिरों में इसी तरह की चीजें चिपका चुका है । ऐसा क्यों किया पूछने पर वह कहता है कि मेरा दिमाग खराब हो गया था, मुझे माफ कर दीजिए। लोग इस बात से हैरान है कि जिस विक्षिप्त को अपनी तक सुध नहीं, उसे यह कैसे पता है की पोस्टर का फोटो कॉपी कहां कराना है। उस पर क्या लिखना है और उसे कहां चिपकाना है ।शायद इसी कारण से आरोपी के असली या नकली होने पर संदेह हो रहा था ,लेकिन जांच से यह दूध का दूध और पानी का पानी हो गया और शक की कोई गुंजाइश ही नहीं बची । आंदोलनकारियों ने अपनी आंखों से देखा कि आरोपी चलने फिरने के काबिल भी नहीं है ।उसकी हालत बेहद दयनीय है लिहाजा दिन भर जिसे सख्त से सख्त सजा देने की मांग की जा रही थी अब उसी को सेंदरी के मानसिक रोग अस्पताल भेजने की तैयारी आंदोलनकारियों में से कुछ लोग कर रहे हैं।
आरोपी का नाम ओमी गुलाटी है । बताया जा रहा है कि वह पुराना बस स्टैंड हनुमान मंदिर के बाहर भीख मांगकर गुजरा करता है । आरोपी यादव मोहल्ला टीकरापारा मे रहता है।


वैसे आरोपी को सरफिरा कहकर खारिज नहीं किया जा सकता क्योंकि उसकी हरकतें ऐसी है जिससे शहर में आग लग सकती है। अगर यह व्यक्ति इसी तरह खुला घूमता रहा तो पता नहीं इसके कारण किस दिन कोई बड़ा बवाल मच जाए । इस बार तो मामला आसानी से सुलझ गया लेकिन हर बार ऐसा हो यह जरूरी नहीं, इसलिए इस व्यक्ति को या तो मानसिक चिकित्सालय में रखा जाना चाहिए या फिर कहीं भी कैद रखा जाए ताकि यह बारूद इसी तरह खुला शहर में ना घूम पाये। पकड़ा गया आरोपी कम शातिर नहीं है। आरोपी अब भी खुद को पेशावर का मानता है और कहता है कि दाऊद इब्राहिम से उसकी बात होती है। इतना ही नहीं हिंदू धर्म के विरुद्ध उसके दिमाग में कोई ग्रंथि तो है जो उसे हिंदू धर्म से नफरत करना सिखा रही है । इसलिए यह आदमी चलता फिरता मानव बम से कम नहीं है।


एक बात और


हमें बीमारी से लड़ना है, बीमार से नहीं।


और सबसे बड़ी बात किसी ने किसी से माफी नहीं मांगी है। अगर लक्ष्य को हासिल करना है तो फिर संगठित रहना सीखना होगा। एकता का मूल मंत्र भूल कर सिर्फ पराजय हासिल हो सकती है। समझदार को इशारा काफी है।


दिल्ली में टेस्टिंग खर्च 50 फीसदी कम



दिल्ली में कोरोना को लेकर पर सर्वदलीय बैठक
टेस्टिंग का खर्च 50 फीसदी कम होगा, भाजपा की मांग को अमित शाह की मंजूरी
कांग्रेस की मांग पर सभी को जांच का हक देने का भरोसा दिया
महावीर जैन


नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को ऑल पार्टी (सर्वदलीय) बैठक की। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता ने बताया कि टेस्टिंग के खर्च में 50 फीसदी छूट देने की भाजपा की मांग को गृह मंत्री ने मंजूरी दे दी। भाजपा ने सुझाव दिया कि प्राइवेट अस्पतालों के चार्ज फिक्स किए जाएं। इस पर शाह ने एक कमेटी बनाकर 2 दिन में रिपोर्ट मांगी है।


दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अनिल चौधरी ने कहा कि हर आदमी को टेस्टिंग का हक मिलना चाहिए। ऐसा करके ही इलाज संभव है। गृहमंत्री ने इस मांग को मान लिया है। उन्होंने भरोसा दिया कि नई पॉलिसी में हर आदमी को टेस्टिंग का हक दिया जाएगा। शाह ने ये भी कहा कि दिल्ली सरकार 20 जून तक हर रोज 18 हजार टेस्ट करना शुरू कर देगी। अभी 5 हजार से 7 हजार तक टेस्ट रोजाना हो रहे हैं। डेढ़ घंटे चली सर्वदलीय बैठक में आप, कांग्रेस, भाजपा और बसपा के नेता शामिल हुए।


कांग्रेस ने भी रखी 2 मांगें


1. जो लोग संक्रमित हैं या कंटेनमेंट जोन में हैं, उनके परिवारों को 10-10 हजार रुपए दिए जाएं।


2. फोर्थ ईयर वाले मेडिकल स्टूडेंट्स से नॉन-परमानेंट रेजिडेंट डॉक्टर्स की तरह काम लिया जाए। हेल्थकेयर स्टाफ की कमी को देखते हुए फोर्थ ईयर वाले फार्मेसी या नर्सिंग स्टूडेंट्स से भी काम करवाया जाए।


सुप्रीम कोर्ट ने लगाई थी दिल्ली सरकार को फटकार


सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को दिल्ली सरकार को फटकार लगाई थी। कोर्ट ने कहा था कि अगर कोरोना मरीजों की लाशें कचरे के ढेर में मिल रही हैं तो ये इंसानों के साथ जानवरों से भी बदतर सलूक है। कोर्ट के इस कमेंट का असर ये हुआ कि अमित शाह ने खुद मोर्चा संभाल लिया है और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अब बैक सीट पर नजर आ रहे हैं।


दिल्ली में अब तक 41000 से ज्यादा लोग संक्रमित


राजधानी में 14 जून तक संक्रमण के 41 हजार 142 केस हो गए । इनमें से 24 हजार 32 मरीजों का इलाज चल रहा है। 15 हजार 823 मरीज ठीक हो चुके हैं, जबकि 1 हजार 327 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां अब तक 2 लाख 90 हजार 592 टेस्ट किए जा चुके हैं। हर दिन 5 से 7 हजार लोगों की जांच की जा रही है। इस बीच ऐसी शिकायतें मिली थीं कि कुछ अस्पतालों में कोरोना के मरीजों से बुरा बर्ताव हो रहा है। कोरोना से मरने वालों की लाशें कचरे के ढेर में छोड़ दी जा रही हैं।


24 घंटे में शाह की तीसरी बैठक


ऑल पार्टी मीटिंग से पहले शाह ने रविवार सुबह दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ करीब डेढ़ घंटे चर्चा की थी। फिर शाम को दिल्ली के सभी मेयर के साथ म्युनिसिपल लेवल की स्ट्रैटजी पर बात हुई। तीनों मेयर ने कहा कि वे कोरोना के केस बढऩे की स्थिति से निपटने और दिल्ली सरकार को अपनी सुविधाएं देने के लिए तैयार हैं। दिल्ली की तीनों म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन में भाजपा की सत्ता है।


शाह-केजरीवाल की मीटिंग में हुए फैसले


1. कोरोना टेस्टिंग का रेट दोबारा तय होगा। इसके लिए बनाई गई कमेटी को आज रिपोर्ट देनी है।


2. स्काउट गाइड, एनसीसी, एनएसएस और दूसरे सेल्फ हेल्प ग्रुप के मेंबर्स को हेल्थ वॉलेंटियर बनाया जाएगा।


3. अंतिम संस्कार की नई गाइडलाइन जारी की जाएगी, ताकि लंबा इंतजार नहीं करना पड़े।


4. दिल्ली के छोटे अस्पतालों की मदद के लिए एम्स में हेल्पलाइन नंबर शुरू किया गया है। इस नंबर पर सीनियर डॉक्टर सलाह देंगे।




बरसात में वन्य जीव हो जाते हैं हिंसक

कवर्धा। वन क्षेत्रों में मानवीय बसाहट, अतिक्रमण, अवैध कटाई, अवैध उत्खनन, वन्य प्राणियों का अवैध शिकार तथा मानव विकास के लिए जंगलों का गैर वानिकी कार्य में व्याप्वर्तन के चलते वन्य प्राणियों के लिए प्राकृतिक आवास और प्राकृतिक संसाधन सीमित होते जा रहे हैं। इसके चलते वन्य प्राणी वनों से निकलकर मानवीय बसाहट वाले क्षेत्रों में आए दिन भटक कर आ जाते हैं, जिससे मानव- वन्य प्राणी द्वंद की स्थिति निर्मित होती है। इस द्वंद में कभी मनुष्य की जान जाती है, तो कभी वन्य प्राणी की जान जाती है। कभी फसल हानि होती है, तो कभी संपत्ति की नुकसानी होती है। ऐसे में प्राकृतिक संतुलन के साथ-साथ ऐसे बहुत से सुनियोजित विकास कार्यों की और सावधानियों की आवश्यकता है, जिसमें मानव-वन्य प्राणी द्वंद को कम से कम किया जा सके। कबीरधाम जिले के वनमण्डाधिकारी श्री दिलराज प्रभाकर ने आज वन्य प्राणियों की सुरक्षा और बचाव के लिए विस्तार से चर्चा की। उन्होने यह भी बताया कि जंगल में अलग भालू यहां अन्य हिंसक प्राणी दिख जाए,तो हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं। उन्होने भालू के हमले से बचाव के लिए अनगिनत उपाय भी बताए।


वनमण्डाअधिकारी श्री दिलराज प्रभाकर ने चर्चा करते हुए बताया कि कबीरधाम जिले के अलग-अलग क्षेत्रों में मानसून के आगाज के साथ ही वन्य प्राणी भालू भी इन दिनों जंगल और मानवीय आवास के सीमावर्ती क्षेत्रों में वन विभाग की टीम को रात्रि गश्त एवं विभिन्न क्षेत्रीय दौरों के दौरान देखने को मिल रहा है। कबीरधाम में कवर्धा वन मंडल अंतर्गत वन विभाग के द्वारा आमजन में जन-जागरूकता लाने के लिए शासन के समय-समय पर निर्धारित दिशा-निर्देशों के अनुसार भालू के हमले से कैसे बचें बाबत जानकारी दी गई है। 


श्री प्रभाकर ने बताया कि भालू के अधिकतम हमले गर्मी के महीनों में होते हैं और उसके बाद मानसून के महीनों में भालू हमले की घटनाएं जंगल तथा जंगल के निकटवर्ती इलाकों में होती है। मानसून के महीनों में अधिकतम हमले जून- जुलाई-अगस्त में मशरूम संग्रहण, जलाऊ लकड़ी संग्रहण, खेती के कार्य, पशुओं की चराई, खुले में शौच, आदि, के दौरान होते हैं। याद रखें, भालू अधिकतर बिना किसी उद्देश्य से हमला करता है। भालू तब हमला करता है, जब अचानक से भयभीत हो जाए या अचानक से चैंका दिया जाए या अपने बच्चों की सुरक्षा कर रहा हो।


घातक वन्य प्राणियों से कैसे बचें यह जानना जरूरी है


घातक व हिंसक वन्य वाणियों से कैसे बचे और क्या सावधनी बरती चाहिए। सावधानियों में, जंगलों में अकेले ना घूमे। अकेले घूमने से भालू को आपके आने की भनक नहीं लग पाती और अचानक आप उसे देखें, तो वह अपने बचाव में हमला कर सकता है। यदि, जंगल में अकेला जाना पड़े, तो अपने साथ एक लंबा डंडा, आवाज करने के लिए घंटी या सीटी जरूर रखें। डंडे को जमीन पर लकड़ियों पर या झाड़ियों पर ठोकते हुए आगे बढ़े। जंगल में जब भी जाना हो, समूह में जाएं और पर्याप्त आवाज करते चाहिए। जिससे भालू को आपके आने का संकेत मिल जाए और उसे वहां से दूर जाने के लिए पर्याप्त समय मिल जाए।


फैसले के दौरान, पति पर जानलेवा हमला

भाजपा नेता के पौत्र  के लगी गोली


उन्नाव। स्टेशन मार्ग  पर दीपक गुप्ता 30 पुत्र राजेंद्र गुप्ता के  आवास पर हो रहे फैसले के दौरान अचानक दाहिने कंधे में गोली लगी। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया घायल के पिता राजेंद्र गुप्ता का आरोप है कि उसके पुत्र को जान से मारने के लिए ससुराली जनों ने उस पर फायर किया है।
दीपक गुप्ता  की शादी विगत 3 फरवरी 2017 को राधेलाल गुप्ता की पुत्री नेहा गुप्ता निवासी पुरवा से हुई थी। ढाई वर्ष तक जब नेहा के कोई संतान नहीं हुई, तो पति-पत्नी में विवाद होने लगा पति ने नेहा को  5 माह पूर्व उसके घर लड़ झगड़ कर भेज दिया था। तब से नेहा अपने माता-पिता के पास ही रह गई थी। आज रविवार दोपहर 2:00 बजे घायल दीपक गुप्ता के ससुर राधेलाल सांस लक्ष्मी गुप्ता पत्नी नेहा गुप्ता भाई विजय कुमार इसी बात के फैसले को लेकर दीपक गुप्ता के घर आए थे। जहां फैसले के दौरान ही गोली चली और दीपक के दाहिने कंधे में जा लगी और वह गिरकर तड़पने लगा। आनन फानन उसे बांगरमऊ सीएससी पर लाया गया जहां चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। लेकिन उसके पिता राजेंद्र गुप्ता उसकी गंभीर दशा देख उसे सीधे सहारा हॉस्पिटल लखनऊ लेकर चले गए इस घटना की तहरीर अभी नहीं दी है। कोतवाली पुलिस ने ससुर राधेलाल सांस लक्ष्मी गुप्ता भाई विजय कुमार पत्नी नेहा गुप्ता को अपनी हिरासत में ले लिया है घायल दीपक गुप्ता पूर्व चेयरमैन भाजपा नेता स्वर्गीय जयराम दास गुप्त के पौत्र हैं। सहारा हॉस्पिटल में उनकी हालत नाजुक बताई जा रही है। जहां एक और पत्नी आरोप लगा रही है की गोली दीपक गुप्ता ने ही अपने आप मारी है वही घायल के पिता राजेंद्र का कहना है कि ससुराल पक्ष ने उनके पुत्र पर फैसले के दौरान गोली चलाई है बांगरमऊ कोतवाली प्रभारी ने घायल को गोद में उठाकर एंबुलेंस तक पहुंचाया।


 रिपोर्टर नीरज कुमार


हॉटलाइन 'वन टू वन' सेवा का उद्घाटन

गाजियाबाद। प्रदेश की सबसे हाईटेक जेल डासना में हॉटलाइन वन टू वन सेवा का उद्घाटन हुआ। गाजियाबाद की  जिला जेल  में विशेष सेवा की शुरुआत की गई। जिससे कैदी और मुलाकात करने वालों के बीच डिजिटल संपर्क सामान्य और साधारण हो गया है। डासना की जिला जेल पहुंचे डीजी जेल, डीआईजी जेल मेरठ जोन। डीजी जेल आनन्द कुमार ने किया उद्घाटन। बन्दियों की मुलाकात के किये शुरू होगी हॉटलाइन सेवा। मुलाकातियों और बन्दियों की दूरी होगी अब टेलीफोन के जरिये कम। 39 हॉटलाइन टेलीफोन लगाए गए। प्रदेश की पहली जेल बनी डासना जेल

मसूरी थाना एरिया में स्तिथ है डासना जिला जेल।

देश के 4 राज्य वायरस से अधिक प्रभावित

नई दिल्ली। कोरोना वायरस (कोविड-19) ने महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात और दिल्ली में सबसे ज्यादा प्रकोप फैला रखा और देश के इन चार राज्यों में अब तक 214,345 लोग इससे संक्रमित हुए हैं, जो देशभर में अब तक इस जानलेवा विषाणु से प्रभावित हुई कुल आबादी का 64.48 प्रतिशत है।


केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी आंकड़ों के अनुसार देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के रिकाॅर्ड 11,502 नये मामले सामने आये हैं, जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या तीन लाख 30 हजार के आंकड़े को पार कर 332,424 पर पहुंच गयी है। देश में इस महामारी से कुल 9520 लोगों की मौत हुई है तथा 169,798 लोग स्वस्थ हुए हैं। देश में इस समय कोरोना के 153,106 सक्रिय मामले हैं।


महिला के मोह में नहीं छूट रहा है सर्किल

एक महिला अधिकारी के मोह में एक पूर्व सीओ से नहीं छूट रहा पलिया

अपनी सर्किल लावारिस छोड़कर रोज आ जाते हैं पलिया के प्राइवेट गेस्ट हाउस

यहां रहने से सर्किल में अपने समय के चहेतों के लिए करते हैं दखल

दखल बनता है विवाद की वजह, फिर शुरू हो जाती है राजनीति

सर्किल में दखलंदाजी से नहीं हो पाती ढंग से पुलिसिंग

क्या उनकी सर्किल में परिवार संग रहने को नही है कोई जगह

आदर्श श्रीवास्तव

लखीमपुर(खीरी)। पलिया सर्किल में अरसे से तैनात रहे एक सीओ से पलिया का मोह नहीं छूट रहा, उनका तबादला महीनों पहले जिले की पचासों किलोमीटर दूर जिले की एक तहसील में हो गया था। वह एक प्राइवेट कंपनी के गेस्ट हाउस रहते थे माना जा रहा था कि वह जल्द यहां से परिवार समेत चले जायेंगे लेकिन ऐसा नही हुआ, माना जाने लगा कि शायद बच्चे की पढ़ाई की वजह से ऐसा हो लेकिन वह सत्र भी बीत गया लेकिन उन्होंने आवास नहीं छोड़ा तब इसको लेकर तरह तरह की चर्चा होने लगी। इसमें प्रमुख चर्चा थी कि यहाँ तैनात एक महिला अधिकारी जिनके साथ उनकी जोड़ी उस समय सुर्खियों में रहती थी। महिला अधिकारी अभी यहीं तैनात हैं। पूर्व सीओ रोजाना पचासों किलोमीटर का सफर तय करके अपनी सर्किल को लावारिस छोड़ जब यहां सिर्फ रहने को आते हों तो सवालों का उठना लाजिमी है की आखिर ऐसा क्या है जो इतनी दूर खींच लाता है। बात यहीं नहीं खत्म होती आगे भी कुछ ऐसा है जो पुलिस के लिए सिरदर्द बना है खासकर यहाँ तैनात सीओ के लिये, पूर्व साहब जब रात से लेकर सुबह तक यहीं रहते है तो उनकी तैनाती के समय के चहेते पुलिसकर्मी अपनी अपनी जायज नाजायज सिफारिश भी कराते है और उस समय के संपरकी और मिलने जुलने वाले लोग भी अपनी सिफारिश उनके जरिये वर्तमान सीओ से करवाते हैं इसमे कुछ जायज होती हैं और कुछ नाजायज भी। अगर पलिया सर्किल के वर्तमान सीओ ने न नुकुर की तो यहां से राजनीति शुरू हो जाती है और पूरा पुलिस विभाग दो खेमों में बंट जाता है एक तरफ वो कर्मी होते हैं जो पदाधिकारी यानी वर्तमान अधिकारी के निर्देश पर कार्य कर डियूटी को अंजाम देते है तो दूसरी तरफ वो पुलिस कर्मी जो उन साहब के लिए कार्य करते है जो अब यहां इस पद पर नहीं हैं। फिर चलने लगती हैं एक सर्किल दो अधिकारियों द्वारा। एक सर्किल का ऑफिस दिन में चलता है तो दूरी सर्किल का रात से सुबह तक। इससे वर्तमान सीओ के लिए मुसीबतें खड़ी हो जाती है और न जाने क्या क्या शिकायतें शुरू हो जाती है। जिन पुलिसकर्मियों की नाजायज सिफारिशें पूर्व सीओ पूरी नही कर पाते है उनकी सिफारिश वो महिला अधिकारी पूरी कराने के लिए वर्तमान सीओ पर दबाव बनाने लगती हैं अगर पूरी हुई तो ठीक नहीं तो एक नई जंग छिड़ जाती है। यही वजह है कि पलिया सर्किल अब विवादों से घिर गई है और पलिया आने वाले हर सीओ के लिए यह एक बड़ी मुसीबत है। क्या पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों को इसकी खबर नहीं है कि पलिया सर्किल एक पूर्व सीओ की दखलंदाजी से बदनाम हो रही है या फिर उच्चाधिकारी जानबूझकर पलिया सर्किल को बदनाम कर विवादों की जड़ बना रहे हैं। बताते हैं कि पलिया के यह पूर्व सीओ जिले में करीब 3 साल पूरे कर चुके है। एक पुलिस का जिम्मेदार अधिकारी अपनी सर्किल से पचासों किलोमीटर दूर सिर्फ रहने के लिए आता हो तो उसकी वर्तमान सर्किल की सुरक्षा व्यवस्था का क्या हाल होगा, अगर कोई बड़ी वारदात हो जाये तो साहब को पहुंचने में ही घंटों लग जाएंगे,, फिर भी पुलिस के आलाधिकारी खामोश हैं तो यह भी अपने आप मे एक बड़ा सवाल है।

'लव जिहाद' में एसडीएम से की शिकायत

खुशहाल पार्क थाना ट्रोनिका सिटी के निवासी आदिल द्वारा लव जिहाद मैं बहला-फुसलाकर हिंदू लड़की प्रिया का अपहरण करने के संबंध में उप जिलाधिकारी महोदय को ज्ञापन

अश्वनी उपाध्याय

गाजियाबाद। थाना टोनिका सिटी के अंतर्गत खुशहाल पार्क के आदिल द्वारा दिल्ली से अगवा करके रखे रखे जाने के संदर्भ में पीड़ित परिवार के साथ एक ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर विश्व हिंदू परिषद के नगर अध्यक्ष अभय चौहान ने उप जिलाधिकारी लोनी खालिद अंजुम को अवगत कराया कि यह बहुत ही शर्मसार करने वाली घटना हो सकती है। जिस तरह पंजाब की  हिंदू बेटी को अगवा कर लव जिहाद में फंसा कर मेरठ के दौराला गांव में लाकर निर्मम हत्या कर दी गई। ऐसी घटना हमारी लोनी में ना हो। इसलिए शासन प्रशासन का यह कर्तव्य बनता है कि जल्द से जल्द उस हिंदू बेटी को उसके परिवार के साथ सकुशल पहुंचाया जाए। ताकि उत्तर प्रदेश में एक और दुखद मंजर ना हो इस पर नगर अध्यक्ष अभय चौहान ने यह भी बताया कि अगर 1 सप्ताह के अंदर उस बहन का पता नहीं चला तो विश्व हिंदू परिषद  बजरंगदल बड़े स्तर पर धरना प्रदर्शन करेगा। क्योंकि जो आदिल नाम का लड़का उस हिंदू बेटी का अपहरण करके लाया है। उसकी पहले से दो शादियां हो रखी हैं और वह दोनों बीवियां व उसका परिवार खुशहाल पारक में रहता है। इस पर उप जिलाधिकारी  महोदय ने जल्द ही पीड़ित परिवार की मदद करने का आश्वासन दिया। इस मौके पर प्रदीप गहलोत,  सुमित पंडित, अनुभव चौहान ,सूरज प्रकाश मिश्रा' बाबा ठाकुर, प्रिंस त्यागी, नवीन पटेल, अमित यादव, आदर्श ,आदेश ,आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

पुजारी के खिलाफ शिकायत दर्ज की मांग

तथाकथित पुजारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने को दी तहरीर                    


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। विश्व के सबसे बड़े राष्ट्रवादी संघठन आरएसएस के पूज्य सर संघचालक आदरणीय मोहन भागवत ,अखिल भारतीय प्रचारक आदरणीय इन्द्रेश कुमार,देश के यशशवी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेन्द्र मोदी के बारे सोशल मििडिया मेे भ्रामक और अभद्र टिप्पणी करने वाले पुजारी यति नरसिंहा नन्द के खिलाफ सहयोग द हेल्पिंग हैण्ड संस्था के संस्थापक अध्यक्ष विजेन्द्र त्यागी के नेतृत्व में लॉक डॉन का पालन करते हुए। हिन्दू संघठनो के कार्यकर्ताओं ने लोनी थाना प्रभारी विजेन्द्र सिंह भड़ाना को तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कर कठोर कार्यवाही करने की मांग की। बिना किसी आधार के देश के सम्मानित व्यक्तियों के खिलाफ इस तरह की टिप्पणी करने का अधिकार किसी को नही है। ऐसे लोग समाज में वैमनस्य फैलाकर उपद्रव खड़ा करने का प्रयास कर रहे है। ऐसे लोगो पर रासुका की कड़ी कार्यवाही होनी चाहिये। जिससे भविष्य में कोई भी तथ्यहीन बात करके समाज का माहौल न खरांब कर सके। इस अवसर पर हिन्दू संघठनो के अनेको कार्यकर्ता विजेन्द्र त्यागी ,हिन्दू जागरण मंच के युवा जिला अध्यक्ष प्रेमपाल वर्मा ,नगर अध्यक्ष नितिन शर्मा ,युवा अध्यक्ष विकाश धामा ,सोनू यादव आदि उपस्थित रहे और सभी ने सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए कड़ी कार्यवाही की मांग की।


पाकिस्तान से दो भारतीय कर्मचारी गायब

नई दिल्ली। पाकिस्तान वैसे तो बेहद असुरक्षित देश है लेकिन ऐसा माना जाता है कि राजनयिकों को अंतरराष्ट्रीय कानूनों के चलते हर देश में सबसे ज्यादा सुरक्षा दी जाती है लेकिन पाकिस्तान से दो भारतीय कर्मचारी गायब हो गए हैं। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में स्थित भारतीय दूतावास के दो कर्मचारियों के लापता होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग के दो कर्मचारी पिछले कई घंटे से लापता हैं। उनके लापता होने की जानकारी सरकार ने पाकिस्तान के अधिकारियों को दे दी है। अब पाकिस्तान में उनकी तलाश की जा रही है।


भारत सरकार ने पाकिस्तान के टाप प्रशासनिक अधिकारियों को इस मामले से अवगत करा दिया है। जानकारी के मुताबिक सीआईएसएफ के दो ड्राइवर ड्यूटी पर बाहर गए थे लेकिन वह अपने गंतव्य स्थान तक नहीं पहुंचे हैं। जिसके बाद उनके अपहरण की आशंका जताई जा रही है। ड्राइवर की तलाश की जा रही है और पाकिस्तान सरकार को इनकी गुमशुदगी के बारे में बता दिया गया है।


ब्राजील में जनता ने खोया आपा, प्रदर्शन

ब्रासिलिया। कोरोना संकट के बीच ब्राजील में राष्ट्रपति जायर बोल्सिनारो के खिलाफ चल रहा प्रदर्शन रविवार को भी जारी रहा। यहां कुछ शहरों में राष्ट्रपति के लिए विरोध प्रदर्शन चल रहा है। ब्राजील कोरोना से प्रभावित होने वाला पूरी दुनिया में दूसरा देश है, यहां अभी तक 8 लाख 67 हजार 6 सौ 24 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि की जा चुकी है जिनमें से 43 हजार 3 सौ 32 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। Efe न्यूज के मुताबिक ज्यादातर राज्य और नगरपालिकाएं प्रतिबंधों को हटाकर देश को फिर से खोलने की तरफ ध्यान दे रहे हैं।


यहां प्रदर्शनकारियों ने सामाजिक, फासीवाद-विरोधी और नस्लवाद विरोधी आंदोलनों समेत स्वास्थ्य संकट के दौरान राष्ट्रपति की नरसंहार नीतियों और उनके सत्तावादी बयानबाजी के खिलाफ साओ पाउलो में मार्च


राष्ट्रपति ने देश की हालत के लिए दूसरों को बताया दोषी


राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो ने कुछ समय पहले खुद जिम्मेदारी न लेते हुए देश की इस हालत के लिए मेयर, गवर्नर, निवर्तमान स्वास्थ्य मंत्री और मीडिया को दोषी ठहराया था। उन्होंने अपने इस विचार का बचाव करने की कोशिश की थी कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए अर्थव्यवस्था को बंद करने से देश को अधिक नुकसान होता। गवर्नरों द्वारा उनके जिम खोलने का आदेश ठुकराने को उन्होंने तानाशाही रवैया बताया था।


दुनियाभर में कोरोना के 78 लाख से ज्यादा केस


गौरतलब है कि दुनियाभर में कोरोना का प्रकोप बढ़ता जा रहा है हालांकि कुछ देशों में संक्रमितों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ ठीक होने वाले मरीजों की तादाद भी काफी ज्यादा है। जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के मुताबिक विश्व में अब तक कोरोना के 78 लाख 93 हजार 700 मामले दर्ज किए जा चुके हैं, जिनमें से 4 लाख 32 हजार 9 सौ 22 लोगों की मृत्यु इस महामारी की चपेट में आने से हो चुकी है। इसके अलावा 37 लाख 66 हजार 8 सौ 86 लोग इस महामारी के संक्रमण से ठीक भी हुए हैं। अमेरिका कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला देश है इसके बाद दूसरे स्थान पर ब्राजील है।


पीएम की धर्मपत्नी का जन्मदिन मनाया

नैनीताल। एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था संस्था कोषाध्यक्ष बलराम हालदार सदस्य रितिक साहू के नेतृत्व में संस्था के माध्यम से संस्था मार्गदर्शिका प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की धर्मपत्नी जशोदा बेन मोदी के 69 वें जन्मदिन पर जशोदा बेन मोदी जी के लंबी आयु के लिए संस्था पदाधिकारियों ने हल्द्वानी नैनीताल रोड स्थित शहीद पार्क में फलदार वृक्षारोपण कर जशोदा बेन मोदी जी का मनाया 69 वाँ जन्मदिन। इस दौरान एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार साहू मीडिया प्रभारी मुकेश सरकार ने संयुक्त रूप से कहा की इस संसार में हर मनुष्य का अपना अपना व्यक्तित्व है। वही मनुष्य की पहचान है कोटि कोटि मनु्ष्यों की भीड़ में भी वह अपने निराले व्यक्तित्व के कारण पहचाना जाता है। यही विशेषता एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था मार्गदर्शिका प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की धर्म पत्नी जशोदाबेन मोदी जी की है। क्योंकि भारत के प्रधानमंत्री की पत्नी होने के बावजूद भी जशोदा बेन मोदी ने भारतहित कार्य के लिये अपने त्याग तपस्या दृढ़ संकल्प के चलते सामाजिक साधारण जीवन जी रही हैं जिससे जशोदा बेन मोदी जी ने अपने इस सादगी भरे व्यक्तित्व के कारण भारत सहित पूरे विश्व को अपने तरफ आकर्षित किया है और हम सभी भारतवासी जशोदा बेन मोदी जी के दिल से बहुत आभारी है की उन्होंने अपने पति नरेन्द्र मोदी जी को भारत को विश्व गुरु बनाने के लिए भारत माता को समर्पित कर दिया जो भारत के प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी जी भारत को विश्व गुरु बनाने के लिए रात दिन जाग जाग कर दिलो जान से भारतहित में कार्य कर रहे हैं यह हम सभी भारतीयों के लिए बहुत गर्व की बात है जिससे यह बात भी साबित होती है की जिस व्यक्ति ने राष्ट्र और समाज के प्रति सेवा करने का अपना लक्ष्य निर्धारित करके आगे बढ़ता है वही व्यक्ति इतिहास रचता है। आज उन्हीं लोगों के परिणाम स्वरूप उनकी वर्तमान पीढ़ियां निरंतर प्रगति की ओर बढ़ रही है। वह युवक श्रेष्ठ होता है जो आगे बढ़ने और भारतहित के लिए सब कुछ कर गुजरने का खुली आंखों से सपने देखता है। क्योंकि सुख समृद्धि एवं शांति से परिपूर्ण जीवन के लिए सच्चरित्र तथा सदाचारी होना ही पहली शर्त है जो उत्कृष्ट विचारों के बिना संभव नहीं है। हमें यह दुर्लभ मानव जीवन किसी भी कीमत पर निरर्थक और उद्देश्यहीन नहीं जाने देना चाहिए लोकमंगल की कामना ही हमारे जीवन का उद्देश्य होना चाहिए। केवल अपने सुख की चाह हमें मानव होने के अर्थ से पृथक करती है। मानव होने के नाते जब तक हम सभी दूसरे के दु:ख दर्द में साथ नहीं निभाएंगे तब तक इस जीवन की सार्थकता सिद्ध नहीं होगी। वैसे तो हमारा परिवार भी समाज की ही एक इकाई है। परन्तु इतने तक ही सीमित रहने से सामाजिकता का उद्देश्य कभी पूरा नहीं हो सकता हमारे जीवन का अर्थ तभी पूरा हो सकेगा जब हम समाज को ही परिवार माने तभी मानवता में ही सज्जानता निहित है जो सदाचार का पहला लक्षण है और मनुष्य की यही एक शाश्वत पूंजी है। इसलिए एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और नरेन्द्र मोदी जी की धर्मपत्नी जशोदा बेन मोदी जी के भारतहित त्याग तपस्या दृढ़ संकल्प से प्रेरित होकर हमेशा भारतहित में कार्य करती है और आगे भी भारतहित में करती रहेगी।

इस दौरान वृक्षारोपण करने में संस्था उपाध्यक्ष लोकेश कुमार साहू कोषाध्यक्ष बलराम हालदार मीडिया प्रभारी मुकेश सरकार रितिक साहू सूरज मिस्त्री सुशील रॉय आदि लोग उपस्थित रहे।

भ्रष्टाचार में सचिव सहित 7 किए गिरफ्तार

लखनऊ। उत्तर-प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने रविवार को फर्जी टेंडर के माध्यम से धोखाधड़ी कर लोगों से पैसे एंठने के आरोप में राज्य मंत्री के निजी सचिव सहित सात लोगों को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) विशाल विक्रम सिंह ने कहा कि विधानसभा सचिवालय के कुछ पत्रकारों और कर्मचारियों सहित 14 लोग इंदौर के पशुपालन विभाग के आवेदक मंजीत सिंह भाटिया के साथ टेंडर के माध्यम से धोखाधड़ी कर उनसे भारी रकम ऐंठने के प्रयास किए।


भाटिया को कथित तौर पर 9.72 करोड़ रुपये का चूना लगाया गया। सिंह ने कहा कि इस मामले के संबंध में और भी खुलासे किए जाएंगे व कई और लोग गिरफ्तार होंगे। ये आरोपी सचिवालय का लाभ उठा रहे थे। इनके द्वारा कार्यालय के एक कमरे का भी उपयोग किया जाता था, जिससे लोगों को यह विश्वास करने में आसानी हो कि ये सरकारी ठेके देने में सक्षम हैं। एएसपी ने कहा कि गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान रजनीश दीक्षित के रूप में हुई है, जो राज्य मंत्री के निजी सचिव हैं, एक संविदा वर्ग चार के कर्मचारी धीरज कुमार देव, आशीष राय और ए.के. राजीव उर्फ अखिलेश कुमार (जो एक पत्रकार होने का दावा करते हैं)।इसके बाद रविवार की रात को अनिल राय, रूपक राय और उमा शंकर तिवारी को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा कि आशीष राय सहित इन लोगों के घरों से कुल 28.32 लाख रुपये भी बरामद किए गए।


उन्होंने सात और लोगों के भी नाम बताए, जो पशुपालन विभाग के इन अधिकारियों के साथ मिलकर इस काम से जुड़े हुए थे। इनमें अरुण राय, मोंटी गुर्जर, संतोष मिश्रा, अमित मिश्रा, दिल बहार सिंह यादव और होमगार्ड रघुबीर यादव और ड्राइवर विजय कुमार शामिल हैं। एएसपी ने मामले के बारे में अधिक जानकारी देते हुए आगे बताया कि एसटीएफ मंजीत सिंह भाटिया की शिकायत पर एसटीएफ पिछले कुछ हफ्तों से मामले की जांच कर रही थी और इस दौरान यह पता चला कि विधान सभा सचिवालय के एक कमरे में आशीष राय ने पशुपालन विभाग के उप निदेशक के रूप में भाटिया से मुलाकात की थी।


एसटीएफ के एक अधिकारी ने कहा कि होमगार्ड और ड्राइवर और अन्य स्टाफ ने शिकायत कर्ता को गुमराह करने में आशीष राय की मदद की और टेंडर दिलाने के वादे के साथ मंजीत से 9.72 करोड़ रुपये लिए। अधिकारी ने आगे कहा कि जब उसने अपने पैसे वापस मांगे, तो इन्होंने उसे धमकाने की भी कोशिश की। भाटिका को इस मामले में धमकाने के लिए इन्होंने आजमगढ़ के एक क्रिमिनल की मदद ली। शनिवार रात को आरोपियों के खिलाफ हजरतगंज पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। उन पर धोखाधड़ी, जालसाजी, आपराधिक विश्वासघात, प्रतिरूपण और आपराधिक साजिश के आरोपों के साथ-साथ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।


स्वास्थ्य विभाग को सैंपलिंग वैन की मुहैया

 जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. की प्रेरणा से डाबर इंडिया लिमिटेड ने सैंपलिंग वैन स्वास्थ्य विभाग को कराई उपलब्ध


मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने जिला चिकित्सालय सेक्टर 39 नोएडा से संबंधित वैन को किया रवाना,


प्रत्येक दिन 200 से ढाई सौ सेंपलिंग करने का कार्य होगा संपन


गौतम बुध नगर। कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए कोविड-19 के नोडल अधिकारी नरेंद्र भूषण, पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह एवं जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. के नेतृत्व में विभिन्न स्तर पर कार्यवाही सुनिश्चित की जा रही है। इस श्रृंखला में आज कोविड-19 को लेकर सीएसआर के माध्यम से डाबर इंडिया लिमिटेड कंपनी के द्वारा एक सेंपलिंग मोबाइल वैन स्वास्थ्य विभाग को उपलब्ध कराई है। इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने जिला चिकित्सालय सेक्टर 39 नोएडा में आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर कहा कि जिला अधिकारी की प्रेरणा से संबंधित कंपनी के द्वारा मोबाइल सैंपलिंग वैन सीएसआर के तहत उपलब्ध कराई जा रही है, जिसके द्वारा 200 से ढाई सौ सैंपलिंग तक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ आपसी सामंजस्य स्थापित करते हुए संपन्न किया जाएगा। आयोजित कार्यक्रम में डाबर इंडिया लिमिटेड एवं जनपद के स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त तत्वाधान में मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह की उपस्थिति में एमओयू साइन किया गया। तत्पश्चात मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह के द्वारा संबंधित मोबाइल बैन को रवाना किया गया है। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर दीपक अहोरी, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर नेपाल सिंह, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर ढाका, स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी गण, जिला पंचायत राज अधिकारी  कुंवर सिंह यादव , डाबर इंडिया लिमिटेड सीनियर जनरल मैनेजर मार्केटिंग सुश्री मीनू फाके, बिजनस ऑन व्हील्स कंपनी के पुनीत आनंद  मैनेजिंग डायरेक्टर, अजिमुथ तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गौतम बुध नगर।


दिल्लीः 3950 की मौत, 50978 संक्रमित

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस (कोविड 19) के संक्रमण के मामलों का बढ़ना जारी है तथा पिछले 24 घंटों के दौरान कोराेना संक्रमण के सर्वाधिक 11,502 नये मामले सामने आये हैं जबकि इसी अवधि में 325 और लोगों की मौत हो गई।


केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से साेमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक नये मामलों के साथ संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,32,424 हो गयी। इस बीमारी से मरने वालों की संख्या भी बढ़कर 9520 हो गयी। देश में इस समय कोरोना के 1,53,106 सक्रिय मामले हैं, जबकि इस महामारी से निजात पाने वालों की संख्या 1,69,798 है।


महाराष्ट्र इस महामारी से देश में सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। राज्य में पिछले 24 घंटों में 3390 नये मामले दर्ज किये गये हैं और 120 लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही राज्य में इससे प्रभावित होने वाले लोगों की कुल संख्या बढ़कर 1,07,958 तथा इस जानलेवा विषाणु से मरने वालों की संख्या बढ़कर 3950 हो गयी है। इस दौरान राज्य में 1632 लोग रोगमुक्त हुए हैं जिससे स्वस्थ होने वालों की कुल संख्या 50,978 हो गयी है।


राजनीति से हटकर, एकजुट हो कर लडें

नई दिल्ली। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के सभी राजनीतिक दलों से राजनीति से उपर उठकर तथा एकजुट होकर कोरोना महामारी से लड़ने और राजधानी के लोगों के हित में काम करने की अपील की है। शाह ने आज यहां दिल्ली के सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के साथ बैठक में कहा , “ हम सभी को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में साथ मिलकर इस महामारी से लड़ना है।


सभी दलों की एकजुटता से जनता में विश्वास बढ़ेगा और दिल्ली की स्थिति जल्द ही सामान्य होगी। मैं सभी राजनीतिक दलों से अपील करता हूँ कि उनके कार्यकर्ता यह सुनिश्चित करें कि केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली की जनता के लिए किये गए निर्णयों का नीचे तक कार्यान्वयन हो। उन्होंने जोर देकर कहा कि सबको नए उपायों से दिल्ली में कोरोना की टेस्टिंग को बढ़ाना है। गृह मंत्री ने जोर देकर कहा कि इस समय राजनीतिक द्वेष को भुलाकार सभी पार्टियां दिल्ली की जनता के हितों के लिए साथ मिलकर काम करें।


सभी दलों की एकजुटता से जनता में विश्वास बढे़गा और इस लड़ाई को अधिक बल भी मिलेगा तथा दिल्ली की स्थिति जल्द ही सामान्य होगी। गृह मंत्री ने कहा कि नए उपायों से दिल्ली में कोरोना की टेस्टिंग को बढ़ाना है। उन्होंने ज़ोर देकर कहा “एकजुट होकर हम कोरोना महामारी से लड़ेंगे भी और जीतेंगे भी।” उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार दिल्ली में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सभी जरूरी कदम उठाएगी।रविवार को हुई बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं और सभी राजनीतिक दलों को मिलकर निचले स्तर तक इन फैसलों को बेहतर तरीके से लागू करने में योगदान देना होगा। राजनीतिक दलों से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि उनके कार्यकर्ता यह सुनिश्चित करें कि केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली की जनता के लिए किये गए निर्णयों का नीचे तक कार्यान्वयन हो।


शेयर बाजार लाल निशान पर हुआ बंद

मुंबई। दिनभर की उथल-पुथल के बाद सोमवार को शेयर बाजार लाल निशान पर बंद हुआ। आज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 1.63 फीसदी की गिरावट के साथ 552.09 अंक नीचे 33228.80 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 1.60 फीसदी गिरकर 159.20 अंक नीचे 9813.70 के स्तर पर बंद हुआ।  आज सुबह सेंसेक्स 220.92 अंक (0.65 फीसदी) नीचे 33669.97 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 0.63 फीसदी यानी 62.75 अंकों की गिरावट के साथ 9910.15 के स्तर पर खुला था। इसके बाद दोपहर 12.37 बजे सेंसेक्स 780.70 अंकों की गिरावट के बाद 33000.19 और निफ्टी 220.50 अंकों की गिरावट के बाद 9752.35 के स्तर पर कारोबार कर रहा था।
वहीं पिछले कारोबारी दिन यानी शुक्रवार को दिनभर की उथल-पुथल के बाद शेयर बाजार हरे निशान पर बंद हुआ था। सेंसेक्स 0.72 फीसदी की बढ़त के साथ 242.52 अंक ऊपर 33780.89 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी 0.72 फीसदी बढ़कर 70.90 अंक ऊपर 9972.90 के स्तर पर बंद हुआ था।


पुलिस ने इनामी, वंचित किया अरेस्ट

पिपरी पुलिस ने दबोचा 15000 का इनामिया

कौशाम्बी। लंबे समय से पुलिस के लिए सिरदर्द बना हुआ इमामिया बदमाश पिपरी पुलिस की निगाह से नहीं बच सका और और पिपरी पुलिस ने इनामियां बदमाश को गिरफ्तार कर लिखा पढ़ी कर उसे जेल भेज दिया है। यह बदमाश गोवंश के धंधे में लिप्त बताया जाता है इस पर पूर्व से कई मुकदमे भी दर्ज हैं।

जानकारी के मुताबिक प्रयागराज जनपद के धूमनगंज थाना अंतर्गत छीता नगर उमरी गांव के रहने वाले अबरार पुत्र अफ्तार पर पूर्व से कई मुकदमे दर्ज है। वह बराबर पुलिस को चकमा देकर फरार हो जाता था। उसके ऊपर लंबे समय से गिरफ्तारी वारंट लिए पुलिस उसे ढूंढ रही है। लेकिन अबरार हमेशा पुलिस को चकमा देने में सफल होता रहा। जिस पर अबरार की गिरफ्तारी पर ₹15000 का ईनाम घोषित किया गया। इनामी बदमाश अबरार को थानाध्यक्ष पिपरी विनोद सिंह ने और उप निरीक्षकों ने भगवतपुर मोड़ से सोमवार की सुबह गिरफ्तार कर लिया है और उसे जेल भेज दिया है।

बृजेन्द्र केशरवानी 

प्रभावित जिलों का होगा स्पेशल दौरा

लखनऊ। योगी आदित्यनाथ सरकार अब वरिष्ठ नौकरशाहों और स्वास्थ्य अधिकारियों की उच्च स्तरीय टीमों को 11 जिलों में भेजेगी जिनमें कोरोना के मामले ज्यादा है। ये टीमें राज्य सरकार द्वारा नियुक्त नोडल अधिकारियों के साथ समन्वय करेंगी। यह फैसला राज्य में हॉटस्पॉट की बढ़ती संख्या के बीच आया है। रविवार तक की बात करें तो 58.37 लाख से अधिक लोगों की आबादी के साथ 9.85 लाख घरों को कवर करते हुए हॉटस्पॉट्स की कुल संख्या बढ़कर 2,265 हो गई थी।


वर्तमान में, गौतम बुद्ध नगर में सबसे अधिक समस्या है। यहां सबसे ज्यादा 498 सक्रिय मामले हैं, इसके बाद कानपुर में 288, गाजियाबाद में 272, लखनऊ में 198 और मेरठ में 170 हैं। आगरा में कुल मामलों की संख्या सबसे अधिक 1,038 है लेकिन उनमें से सिर्फ 125 ही सक्रिय मामले हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी के अनुसार, इन हॉटस्पॉट्स में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 4,929 थी। मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिकल स्टॉफ को कोरोना संक्रमित लोगों के अटेंडेंट्स के साथ संवाद स्थापित करने के लिए भी निर्देशित किया है। उन्होंने अधिकारियों से पैरामेडिकल स्टाफ की निगरानी करने और कोविड और गैर-कोविद अस्पतालों में पर्याप्त सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भी कहा है। साथ ही, मुख्यमंत्री ने पुलिस को भीड़-भाड़ वाले इलाकों में गश्त बढ़ाने और ‘अनलॉक 1’ के दौरान केंद्र के दिशानिर्देशों को लागू करने के लिए सभी संभव कदम उठाने के भी निर्देश दिए हैं।


घर-घर जाकर संपर्क कर रही है भाजपा

प्रभात तिवारी


गाज़ियाबाद। भाजपा संगठन द्वारा उत्तर प्रदेश में चलाए जा रहे परिवार जनसंपर्क अभियान के तहत रविवार को भारतीय जनता पार्टी गाजियाबाद के महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा के नेतृत्व में राजनगर मण्डल, संजय नगर सेक्टर 23 स्थित बूथ संख्या 264 के प्रत्येक घरों पर जाकर परिवार से संपर्क किया गया l इस अवसर पर राज्यसभा सांसद अनिल अग्रवाल ने लोगों को माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पत्र की प्रतिलिपि व योगी सरकार की उपलब्धियों का पत्रक स्थानीय कार्यकर्ताओं के साथ घर घर जाकर दिया ।


उन्होंने लोगों को जानकारी देते हुए बताया कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जहां विश्व में भारत की शान बड़ी है वहीं हमने गरीबों के बैंक खाते खोल कर उन्हें मुफ्त गैस कनेक्शन, बिजली कनेक्शन, प्रत्येक घरों में शौचालयों का निर्माण, सीधे किसान व गरीबो के बैंक खाते में पैसा पहुँचवाकर महत्वपूर्ण कार्य किया है।उन्होने इसके साथ साथ योगी सरकार की उपलब्धियों का गुणगान किया। परिवार सम्पर्क अभियान में महानगर महामंत्री पप्पू पहलवान, अभियान के संयोजक सुशील गौतम,महानगर मीडिया संयोजक प्रदीप चौधरी ,वरिष्ठ समाजसेवी वीरेंद्र सारस्वत , मण्डल अध्यक्ष विनीत शर्मा ,पूर्व पार्षद मनवीर नागर , पप्पू नागर, धीरज शर्मा , ओम दत्त कौशिक , कौशल तेवतिया, अनुज राघव,नीरज त्यागी , बूथ अध्यक्ष अमित नागर सुमित नागर , अनिल अरोरा आदि भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे।


जायदाद के लिए हत्या का अंदेशा जताया

जमीन जायजाद के लिए क्रूर हत्या करने का अंदेशा जताया गया


रजनीकांत अवस्थी


महराजगंज/रायबरेली। कोतवाली क्षेत्र के पूरे ठकुराइन मजरे खैरहना गांव में 15 जून 2020 दिन सोमवार की भोर में एक वृद्ध की धारदार हथियार से गले पर वार कर नृशंस हत्या कर दी गई। ग्राम प्रधान ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। कोतवाली प्रभारी अरुण कुमार सिंह दल बल के साथ मौके पर पहुंचे साथ ही फोरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला चिकित्सालय भेज दिया है। हत्या के मामले में मृतक के भाई रामसमुझ ने अज्ञात लोगों के खिलाफ घटना की तहरीर दे दी है। अपर पुलिस अधीक्षक नित्यानंद राय घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। पुलिस घटना की तहकीकात कर रही है। आपको बता दें कि, कोतवाली क्षेत्र के पूरे ठकुराइन मजरे खैरहना गांव निवासी लक्ष्मण 65 पुत्र भगौती का शव गांव के खड़ंजा पर लहूलुहान हालत में मिला। मृतक के गले पर धारदार हथियार से वार किया गया था। घटना की जानकारी मिलते हैं मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई। मौके पर पहुंचे कोतवाली प्रभारी ने फॉरेंसिक टीम के साथ शव को कब्जे में लिया। मृतक के परिजनों से घटना के बावत जानकारी ली।  पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जिला चिकित्सालय भेज दिया है। वहीं मृतक के भाई रामसमुझ ने पुलिस को घटना की अज्ञात के खिलाफ तहरीर दे दी है। समाचार लिखे जाने तक अपर पुलिस अधीक्षक नित्यानंद राय क्षेत्राधिकारी राघवेंद्र चतुर्वेदी व कोतवाली प्रभारी अरुण कुमार सिंह के साथ मौके पर मौजूद रहकर घटना की तहकीकात कर रहे है। हत्या के पीछे जमीनी विवाद बताया जा रहा है।कोतवाली प्रभारी अरुण कुमार सिंह ने बताया कि, मृतक के भाई की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज  घटना की तहकीकात की जा रही है।


व्यवस्था बनाए रखने हेतु पैदल गस्त

रिपोर्ट-नवीन कुशवाहा


कोंच। पुलिस अधीक्षक जालौन डॉ0 सतीश कुमार द्वारा सोमवार को नगर में आकर कोतवाली पुलिस के साथ कोविड19 संक्रमण से बचाव व रोकथाम तथा कानून एवं शान्ति व्यवस्था बनाए रखने हेतु नगर में पैदल गस्त किया।पुलिस अधीक्षक सतीश कुमार ने बाहर घूम लोगो से घरों मे रहने एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की।कोतवाली पुलिस को निर्देश दिए कि जो लोग बिना मास्क के मिले उनसे जुर्माना बसूला जाए।
इस दौरान क्षेत्राधिकारी राजीव प्रताप सिंह,एट थानाध्यक्ष विनोद पांडेय ,पीआरओ अरुण तिवारी आदि उपस्थित रहे।


यूपी में एक्टिव केस की संख्या 4948

यूपी में एक्टिव केस की संख्या 4948 हुई


यूपी में 8268 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज


लखनऊ। अब तक अब तक आगरा 1038, मेरठ 641, नोएडा 997, लखनऊ 596, कानपुर 705, गाजियाबाद 631, सहारनपुर 287, फिरोजाबाद 374, मुरादाबाद 294, वाराणसी 282, रामपुर 259, जौनपुर 431, बस्ती 259, बाराबंकी 229, अलीगढ़ 271, हापुड़ 230, बुलंदशहर 341, सिद्धार्थनगर 173, अयोध्या 171, गाजीपुर 185, अमेठी 217, आजमगढ़ 167, बिजनौर 204, प्रयागराज 147, संभल 182, बहराइच 111, संतकबीरनगर 159, प्रतापगढ़ 95, मथुरा 167, सुल्तानपुर 114, गोरखपुर 167, मुजफ्फरनगर 168, देवरिया 142, रायबरेली 109, लखीमपुर खीरी 84, गोंडा 111, अमरोहा 79, अंबेडकरनगर 101, बरेली 126, इटावा 128, हरदोई 150, महाराजगंज 100, फतेहपुर 97, कौशांबी 53, कन्नौज 144, पीलीभीत 83, शामली 58, बलिया 64, जालौन 100, सीतापुर 47, बदायूं 60, बलरामपुर 51, भदोही 85, झांसी 80, चित्रकूट 76, मैनपुरी 130, मिर्जापुर 41, फर्रुखाबाद 74, उन्नाव 88, बागपत 145, औरैया 57, श्रावस्ती 47, एटा 64, बांदा 34, हाथरस 78, मऊ 68, चंदौली 50, कानपुर देहात 43, शाहजहांपुर 68, कासगंज 32, कुशीनगर 58, महोबा 31, सोनभद्र 31, हमीरपुर 43, ललितपुर 4 मरीज कोरोना पॉजिटिव मिले


यूपी में सभी 75 जिलों में कोरोना संक्रमित मरीज मिले


यूपी में अब तक 154165 मरीजों में कोरोना जैसे लक्षण मिले


7436 लोगों को संस्थागत क्वॉरेंटाइन में रखा गया


यूपी में अब तक कोरोना से 399 मरीजों की मौत


यूपी में आज 499 नए मरीज कोरोना पॉजिटिव मिले


कुछ हजार लगाने से बिजनेस की शुरुआत

अगर आप भी उनमें से हैं जिनके पास ज्यादा पूंजी नहीं है और आप इस बात से परेशान हैं कि आपको बिजनेस शुरू करना है लेकिन इस बात से चिंतित हैं कि उसके लिए लाखों रुपए की आवश्यकता पड़ती है तो हम आपके लिए इस परेशानी का समाधान लेकर आए हैं।


जी हां, दरअसल कुछ बिजनेस ऐसे भी हैं जिसमें लाखों लगाने की जरूरत नहीं है बल्कि कुछ हजार लगाने से ही उन बिजनेस की शुरुआत हो जाती है।


जी हां, दरअसल आज हम आपको कुछ ऐसे बिजनेस आईडियाज के के बारे में बताएंगे जो मात्र 5 से लेकर 10 हज़ार तक शुरू किए जा सकते हैं और इसमें रेगुलर इनकम या रेगुलर प्रॉफिट होता रहता प्रॉफिट होता रहता है।


मोबाइल रिचार्ज और सिम कार्ड शॉप


इस बिजनेस में आपको सिर्फ 3 से 5 हजार का शुरुआती निवेश करना होगा। बता दें कि यह बिजनेस हमेशा डिमांड में रहता है और इस बिजनेस के लिए आपको किसी बड़ी जगह की आवश्यकता भी नहीं है। आप एक छोटी से छोटी दुकान में भी इस बिजनेस को सेट अप कर सकते हैं।


रिचार्ज और सिम कार्ड का उपयोग तो कभी खत्म हो नहीं सकता इसलिए इस बिजनेस का फ्यूचर भी ब्राइट रहता रहता है।


प्रिंटर अौर फोटो कॉपी बिजनेस


यह बिजनेस 4 से 5 हजार रुपए में शुरू हो सकता है। इसके लिए आपको बस एक चीज ध्यान में रखनी होगी क्योंकि अगर आप इस चीज का ध्यान नहीं रखेंगे तो आपको इस बिजनेस में मुनाफा ना के बराबर होगा क्योंकि इस बिजनेस के लिए यह फैक्टर बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है।


शू वॉश लॉन्ड्री


अब तक सिर्फ कपड़ों की ही लॉन्ड्री शॉप हुआ करती थी, लेकिन अब ऐसी मशीनें आ गई हैं जिनसे जूतों की भी धुलाई और सफाई होती है। इस काम को शुरू करने में आपको सिर्फ 4 से 5 हजार रुपए लगाने होंगे और मात्र इतने ही रुपए में आपका बिजनेस सेट हो जाएगा और आपकी गाड़ी चल पड़ेगी।


ब्रेकफास्ट शॉप


चाहे कितनी भी मंदी हो या महंगाई हो जाए, लोग खाना खाना नहीं छोड़ते। ऐसे में यह बिजनेस सदाबहार है। अक्सर लोग सुबह दफ्तर के लिए जल्दी निकलने के चक्कर में नाश्ता नहीं कर पाते हैं। खासतौर से वे लोग जो अकेले रहते हैँ। ऐसे में आप ब्रेकफास्ट शॉप शुरू करके अच्छी कमाई कर सकते हैं। जैसा कि कहा कि एक सदाबहार बिजनेस है है लोग चाहे गरीब हो या अमीर खाएंगे तो शुरू तो इसलिए इस बिज़नेस बिज़नेस बिज़नेस का फ्यूचर भी काफी प्राइवेट होता है और इन्वेस्टमेंट काफी कम।


मिनरल वॉटर सप्लायर


लोगों के बीच मिनरल वॉटर की डिमांड बढ़ रही है। गर्मियों में तो पानी की डिमांड और भी ज्यादा रहती है। ऐसे में आपके लिए यह बिजनेस का अच्छा ऑप्शन हो सकता है। इसे शुरू करने में आपको महज 10 हजार रुपए की पूंजी लगानी होगी। प्रदूषण भी एक बहुत बड़ी वजह है। पानी साफ आ नहीं रहा इसलिए लोग मिनरल वाटर की ओर अग्रसर हो रहे हैं। खासतौर पर जब कोई शादी ब्याह या बड़ा फंक्शन होता है वहां पर मिनरल वाटर की आवश्यकता बहुत बढ़ जाती है ऐसे में आपको काम की कभी कमी नहीं होगी।


गारर्मेंट टेलर


अगर आपको सिलाई-कढ़ाई आती है तो आप अपने हुनर को कमाई का जरिया बना सकते हैं। महज 10 हजार रुपए में आप यह व्यापार शुरू कर सकते हैं। इस काम के लिए आपका हुनर जितना अच्छा होगा उतनी ही इस काम में आपके फ्यूचर ब्राइट होने की संभावनाएं हैं।


कोल्ड ड्रिंक और स्नैक्स


लोगों के बीच फास्ट फूड काफी लोकप्रिय है। ऐसे में आप 8 से 10 हजार रुपए में यह बिजनेस शुरू कर सकते हैं। इस बिज़नस में भी लोकेशन काफी महत्वपूर्ण है।


प्लांट नर्सरी


अपने घरों की बालकनी में पौधे लगाना लोगों को पसंद होता है। अब तो इनडोर प्लांट्स का चलन भी काफी बढ़ गया है। ऐसे में प्लांट नर्सरी एक अच्छा बिजनेस हो सकता है। इस बिजनेस को 10 हजार रुपए में आराम से शुरू कर सकते हैं।


जागरूकता के लिए शेयर अवश्य करें


जनोपयोगी,कानूनी,तकनीकी, सरकारी योजनाओ, आपसे सरोकार रखने वाली नौकरियों व व्यवसाय की उपयोगी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप सीधे मुझसे जुड़ सकते है



  • एडवोकेट प्रताप सिंह सुवाणा


व्यवस्था के लिए विशेष ट्रेन चलाई गई

नई दिल्ली। लॉकडाउन में फंसे प्रवासियों को घर लौटने के लिए काफी नुकसान उठाना पड़ा। सरकारों द्वारा व्यवस्था की गई थी। बस और श्रमिक विशेष ट्रेनें भी चलाई गईं। अब एक वॉलंटियर ग्रुप सर्वे ऑफ स्ट्रेस्ड वर्कर्स एक्शन नेटवर्क (स्वान) ने खुलासा किया है कि घर जाने वाले 85% श्रमिकों को अपना किराया देना पड़ता था।

यह सर्वेक्षण सरकारों के उस दावे को खोलता है, जिसमें कहा गया था कि बस और ट्रेन का किराया श्रमिकों से नहीं लिया जा रहा है। सभी राज्य सरकारों ने दावा किया था कि उन्होंने स्वयं से प्रवासी मजदूरों के किराए का भुगतान किया था।


सर्वेक्षण के अनुसार, 28 मई का सुप्रीम कोर्ट का आदेश बहुत देरी से आया, जिससे सरकारों को प्रवासियों का खर्च वहन करने को कहा गया। जानकारी के मुताबिक, मई की शुरुआत तक कई प्रवासी अपने घर चले गए थे। स्वचालित फ़ोन सर्वेक्षण ने 1963 प्रवासियों से बात की। इसमें से केवल 33% लोग अपने घर जाने में सक्षम थे, शेष 67% लोग मजबूरी में शहर में रहे। जो लोग गए, उनमें से 85% ने अपनी जेब से घर के किराए का भुगतान किया।


'टू लीव या नॉट टू लीव: लॉकडाउन, माइग्रेंट वर्कर्स एंड देयर जर्नी होम' शीर्षक वाली यह रिपोर्ट शुक्रवार को जारी की गई। सर्वेक्षण मई के अंतिम सप्ताह और जून के पहले सप्ताह में आयोजित किया गया था। रिपोर्ट के अनुसार, घर जाने वाले 62% लोगों ने 1500 रुपये से अधिक का किराया दिया। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ज्यादातर प्रवासी नौकरी या काम की कमी के कारण पलायन करने लगे। घर लौटने या अकेले रहने की इच्छा ही प्रवास का कारण है। यह कहा गया है कि अभी भी फंसे हुए 75% लोगों को काम नहीं मिलने की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। वे अभी भी काम पूरा करने से पीछे हट रहे हैं। स्वान में शोधकर्ता अनिंदिता अधिकारी ने कहा, “हमें पता चला कि लोग बीमारी के डर से या परिवार के साथ घर नहीं चला रहे हैं। शहर में बेरोजगारी, कमाई के साधनों की कमी, भोजन समाप्त होने और शहर में कोई काम न होने के कारण लोग अपने घरों में जाने लगे। 'सर्वेक्षण के अनुसार, जो लोग घर गए, उनमें से 44% लोगों ने बस पकड़ी और 39% लोगों को श्रमजीवी स्पेशल ट्रेन में जगह मिली। लगभग 11% लोगों को ट्रक, लॉरी और अन्य साधनों से उनके घर तक पहुँचाया गया। 6% लोग ऐसे भी थे जो पैदल ही अपने गाँव लौट आए। रिपोर्ट के अनुसार, शहरों में फंसे 55% लोग किसी भी परिस्थिति में अपने घर जाना चाहते हैं।SWAN रिपोर्ट में 5,911 प्रवासी मजदूरों की बात भी शामिल है जिन्होंने 15 मई और 1 जून के बीच अपनी समस्याओं की सूचना दी थी। इसमें से 80% ऐसे लोग हैं, जिन्हें सरकारी राशन या खाद्य पदार्थ नहीं मिल रहे हैं। 63% लोग ऐसे भी थे जिनके पास मुश्किल से 100 रुपये बचे हैं। 57% लोगों ने भी फोन किया और बताया कि अब उनके पास न तो पैसे हैं और न ही खाने की चीजें। कुछ ऐसे भी थे जो अब भी नहीं खा पा रहे हैं।


केले की खेती से कैसे कमाता है ₹लाखों ?

केले की खेती से कैसे कमाता है लाखों रुपये?


श्रीनारद मीडिया 


इंसान के अंदर जोश और जज्बा हो तो वह न सिर्फ अपनी मंजिल हासिल करता है, बल्कि औरों के लिए प्रेरणा का श्रोत बन जाता है। ऐसे ही प्रेरणा के श्रोत बने हैं यूपी में बरेली के दो किसान जो आपस में चाचा-भतीजे हैं। एमएससी की पढ़ाई करने के बाद खेती का ऐसा जुनून सवार हुआ कि लीक से हटकर वे केले की खेती-किसानी में उतरे और लाखों की कमाई करके युवाओं के लिए प्रेरणा श्रोत बन गए। उनका दावा है कि केले का उनका फार्म पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ा है।
मूल रूप से शीशगढ़ इलाके के गांव कजियापुर सहोड़ा निवासी अरविंद गंगवार व उनके चाचा धमेंद्र सहाय कई साल पहले महाराष्ट्र गए थे। वहां केले की खेती देखकर मन में नौकरी-चाकरी या पारंपरिक खेती की बजाय केले की खेती करेंगे। आज खेती उनका पैशन है। वे आस-पास के करीब 150 लोगों को इसके माध्यम से रोजगार भी दे रहे हैं।


रिश्ता और व्यापार की कहानी
अरविंद का कहना है कि वह और उनके चाचा धर्मेंद्र सहाय हम उम्र हैं। महाराष्ट्र में जब केले की खेती करने वाले किसानों की समृद्धि देखी तो उनका विचार ही बदल गया। वापस आकर गांव में 27 एकड़ जमीन में केले का बाग लगाया।


योग्यता आ रही खेती में काम 
धर्मेंद्र सहाय ने इन्वायरमेंट साइंस में तो उनके भतीजे अरविंद गंगवार ने एनिमल साइंस विषय से एमएससी किया। इसके बाद नौकरी की दौड़ शुरू होती कि खेती की ओर उनका रुझान हो गया। आज उनकी योग्यता खेती के काम आ रही है और आधुनिक तरीके से खेती कर रहे हैं।


 विदेशों से फोन करके लोग ले रहे खेती के टिप्स
धर्मेंद्र और अरविंद से खेती के टिप्स लेने के लिए देश-दुनिया से फोन आने लगे हैं। धर्मेंद्र का कहना है कि उनके पास कई बार विदेशों और देश के उत्तराखंड, गुजरात, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान आदि राज्यों से फोन आए। कई बड़े किसान विजिट और प्रशिक्षण को भी आ चुके हैं।


एक पेड़ में आता है दो मीटर लंबा केले का गुच्छा 
केला की खेती में पानी की अधिक आवश्यकता होती है। एक फीट केले का पौधा लगाया जाता है। 4 से 5 महीने में पौधा करीब 15 फीट ऊंचा हो जाता है। फूल आने के बाद दो महीने में दो मीटर लंबा तक केले का गुच्छा निकलता है। जुलाई से फसल तुड़ाई शुरू होगी।


सुरक्षा प्रदान करने में कोई कसर नहीं छोड़ी

सीतापुर। जहाँ एक तरफ सरकार हर प्रकार के वन्य प्राणियों को सम्पूर्ण सुरक्षा प्रदान करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है।वहीं दूसरी ओर दबंग किस्म के लोग एक साथ सैकडों वन्य प्राणियों की जान लेने में जरा भी संकोच या भय नहीं करते हैं।आखिर कौन देता है इन दबंगों को संरक्षण। आखिर किसके सहारे दबंगो ने ली सैकड़ों कौवों की जान। रमेश मिश्र ने थानाध्यक्ष से किया कार्यवाही की माँग दवा मिलाते देख नाबालिग लड़के ने दिया ग्रामीणों को जानकार आइए आपको ले चलते हैं। पूरे प्रकरण की ओर-आपको बताते चलें कि सीतापुर जनपद में तम्बौर थाना क्षेत्र के अन्तर्गत सिसैया दरियाना गाँव में राजकुमार पुत्र भगौती के बाग में आम की फसल को तंबौर निवासी सिराज, रवीकुमार व हनीफ पुत्र रऊफ ने मिलकर खरीदा था । दिनाँक 8 जून 2020 को बाग के क्रेताओं द्वारा खिचड़ी में जहरीली दवा मिलाकर डाल दी गयी जिससे लगभग 200 कौवों की मौत हो गयी ।मौत का यह तमसा जब गाँव के रमेश मिश्र पुत्र  समयदीन से सहन नहीं हुआ तो उन्होंने तत्काल थाना प्रभारी तंबौर को प्रार्थना पत्र देकर वन्य जीवों की जान लेने वालों पर कार्यवाही करने की माँग की थी जब दिनाँक 14 जून 2020 तक अपराधियों पर कोई कार्यवाही नहीं हुई तो रमेश फिर थाने गया जिससे पुनः मौके पर पहुँचे उप निरीक्षकों ने अपराधियों पर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है ।अब देखना है कि ऐसा अक्षम्य अपराध करने वालों पर प्रशासन क्या कार्यवाही करता है ।

 


  • प्रदीप अवस्थी


नहर में बहता मिला युवती का शव

कुशीनगर। उत्तर प्रदेश में अपराधिक गतिविधियों में दिन-प्रतिदिन इजाफा हो रहा है। चारों तरफ अपराधी बेखौफ वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। हत्या, लूट, चोरी की वारदातों में इतनी तेजी से बढ़ोतरी होना प्रदेश की जनता के लिए उचित नहीं है। जिस पर अंकुश लगाने में पुलिस बेबस नजर आती है। जिसका प्रमाण नहर में मिली युवती की लाश है। नहर में बहती मिली 18 वर्षीय युवती का शव अपराध की गंभीरता को बयान करता है। युवती घर से किसी बात पर नाराज होकर निकली थी। आज सुबह रिसाल पट्टी के समीप मुख्य पश्चिमी गंडक नहर में दिखा शव, सूचना पर मौके पर पहुँची पुलिस विशुनपुरा ने शव को कब्जे में ले लिया। थाना क्षेत्र के बाँसगांव टोला नैनहा गाँव की घटना है।



कोरोना को लेकर दुनिया में हंगामा मचा

कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर में हंगामा मचा हुआ है। इस बीच एक नया दावा सामने आया है कि अगले हफ्ते 21 जून को दुनिया खत्म हो जाएगी।


ये थ्यूरी प्राचीन माया कलेंडर पर आधारित है। हालांकि अब दुनिया में ज्यादातर लोगों द्वारा ग्रेगोरियन कैलेंडर का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन ये कैलेंडर 1582 में अस्तित्व में आया और इससे पहले कि लोग कई तरह के कैलेंडर का उपयोग करते थे। सबसे लोकप्रिय कैलेंडर में माया कैलेंडर और जूलियन कैलेंडर थे। विशेषज्ञों के अनुसार, ग्रेगोरियन कैलेंडर को पृथ्वी को सूर्य की परिक्रमा करने में लगने वाले समय को बेहतर ढंग से दर्शाने के लिए पेश किया गया था. लेकिन कई लोगों का यह मानना ​​है कि उस साल से 11 दिन खत्म हो चुके थे, जो कभी जूलियन कैलेंडर द्वारा निर्धारित किया गया था. 


वहीं समय के साथ इन खोए हुए दिनों में इजाफा हुआ है और अब एक साजिश के सिद्धांत का विकास हुआ है, जो दावा करता है कि हमें वास्तव में वर्ष 2012 में होना चाहिए, न कि 2020 में। वैज्ञानिक पाउलो टागालोगयून ने हालही में एक ट्वीट किया, जिसे बाद में उन्होंने डिलीट कर दिया. इसमें उन्होंने कहा था, 'जूलियन कलेंडर के मुताबिक हम टेक्निकली 2012 में हैं. ग्रेगोरियन कैलेंडर में बदलाव के कारण एक वर्ष में खो जाने वाले दिनों की संख्या 11 दिन है. 268 सालों से ग्रेगोरियन कलेंडर के तहत (1752-2020) का 11 दिन = 2,948 दिन. 2948 दिन/ 365 दिन (प्रति वर्ष)= 8 साल.'


इस सिद्धांत के बाद, 21 जून, 2020 वास्तव में 21 दिसंबर, 2012 होगा. गौरतलब है कि इससे पहले 2012 को दुनिया के अंत के रूप में दर्शाया गया था।


नासा ने कहा, 'कहानी यह दावा करने के साथ शुरू हुई कि सुमेरियों द्वारा खोजे गए ग्रह निबिरू का झुकाव पृथ्वी की ओर है. इस तबाही की शुरुआत मई 2003 के लिए की गई थी, लेकिन जब कुछ भी नहीं हुआ तो कयामत की तारीख दिसंबर 2012 को आगे बढ़ा दी गई और 2012 में प्राचीन माया कैलेंडर से इसे लिंक किया गया. इसलिए भविष्यवाणी की प्रलय का दिन 21 दिसंबर, 2012.'


इससे पहले अंतरिक्ष एजेंसी ने पहले बताया था, '2012 में आपदा या नाटकीय परिवर्तनों के किसी भी दावे के लिए, विज्ञान कहां है? सबूत कहां है? कोई भी नहीं है, और सभी काल्पनिक दावे के लिए, चाहे वे पुस्तकों, फिल्मों, वृत्तचित्रों में किए गए हों या इंटरनेट पर, हम तथ्य को नहीं बदल सकते.  दिसंबर 2012 में होने वाली असामान्य घटनाओं के समर्थन में किए गए किसी भी दावे के लिए कोई विश्वसनीय सबूत नहीं है।


संक्रमण के चलते, शासन के सख्त आदेश

रिपोर्ट-लखन लाल मिश्रा

 

लखनऊ। जहाँ एक तरफ कोरोना संक्रमण के चलते उत्तर प्रदेश शासन के तरफ से सख्त आदेश है कि कहीं भी अधिक भीड़ इकट्ठा न होने पाये, वहीं दूसरी तरफ परसपुर पुलिस व स्टेट बैंक ऑफ इन्डिया की लापरवाही साफ-साफ नजर आ रही है। बताते चलें कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया परसपुर में रोजाना लगभग तीस,चालीस चप्पल सामाजिक दूरी का पालन करते हुए नजर आते हैं। तथा बैंक में रुपया निकालने वाले सभी ग्राहक भीड़ इकट्ठा कर राम कहानी गाते नजर आते हैं।

अगर बैंक के कर्मचारियों से पूंछा जाता है। तो कहते हैं कि हम लोगों के कहने पर कोई नहीं मानता है। तथा पुलिस प्रशासन ने कभी समझाने के बारे में सोचा भी नहीं। बैंक के कर्मचारियों ने कहा कि अगर प्रशासन चाहे तो इस भीड़ की दूरी बनवाने में दिक्कत नहीं होगी।

कोरोना के केसों मे भारत तीसरे स्थान पर

कोरोना के बढ़ते मामलों में भारत तीसरे स्थान पर, रोज आ रहे 10 हजार से ज्यादा केस.


श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क


वाशिंगटन। अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत तीसरा देश है जहां रोजाना 10 हजार से ज्यादा मामले आ रहे हैं। रविवार को तो 12 हजार केस दर्ज हुए जो सर्वाधिक है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों को देखें तो इस माह भारत में रोज करीब दस हजार केस आए। वहीं, अमेरिका में 22322 और ब्राजील में यह आंकड़ा 25800 रहा। नए मामलों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है।


न्यूयॉर्क और न्यूजर्सी अमेरिका के सबसे प्रभावित शहर थे। अप्रैल और मई में यहां लाखों मामले सामने आए। न्यूयॉर्क में 30,874 जबकि न्यूजर्सी में 12,696 लोगों की कोरोना की वजह से मौत हो गई। इन दो महीनों में हालात इतने खराब थे कि अस्पतालों में जगह नहीं थी, घरों में रखकर लोगों का इलाज तक करना पड़ा था।


ठीक होने वालों की दर दिल्ली-मुंबई में ज्यादा


हालांकि, तेजी से फैलते संक्रमण के बीच एक राहत की भी बात है। दिल्ली-मुंबई में ठीक होने वालों की दर दुनिया में कई शहरों से आज भी सबसे ज्यादा है। न्यूयॉर्क में सिर्फ 21.23 फीसदी जबकि न्यूजर्सी में 18.88 फीसदी ही महामारी से उबर पाए हैं जबकि वहां कई महीनों से लोग बीमारी से पीड़ित हैं। वहीं, मुंबई में 45.65 फीसदी जबकि दिल्ली में 38.36 फीसदी लोग ठीक हुए।


न्यूयॉर्क से ज्यादा दिल्ली- मुंबई में आ रहे मामले


राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना संक्रमण का ग्राफ कई अमेरिकी शहरों को भी पीछे छोड़ रहा है। एक समय दुनिया के सर्वाधिक प्रभावित शहर रहे न्यूयॉर्क व न्यूजर्सी में जहां इन दिनों सिर्फ 500-600 मामले रोजाना आ रहे हैं तो वहीं, दिल्ली में यह आंकड़ा 2100 और मुंबई में करीब 1500 दर्ज किया जा रहा है।


कैसे थामा कहर? 


 प्रशासन ने तकनीक के जरिए कांटेक्ट ट्रेसिंग को रणनीतिक तौर पर लागू किया। कैंप लगाकर लोगों की जांच की गई और घर-घर जाकर भी छानबीन की
 – जोन बनाकर रेड जोन में टेस्टिंग बढ़ाई गई, न्यूयॉर्क में प्रति दस लाख पर 140,290 जबकि न्यूजर्सी में 116,052 लोगों की टेस्टिंग की जा चुकी है
  – पुलिसिंग तेज की गई ताकि लोग घरों से बाहर तभी निकलें जब उन्हें निकलना बेहद जरूरी था। सरकार ने जरूरी वस्तुओं को घर तक पहुंचाने में मदद की
 – स्टे एट होम के तहत सख्त नियम लागू हुए, मेयर खुद सड़कों पर उतरकर लोगों को घर से बाहर न निकलने के लिए प्रेरित करते रहे।


जनपद में फिर फूटा 'कोरोना बम'

विवेक कुमार यादव


जनपद में फिर फूटा कोरोना बम


एक साथ मिले 13 नए कोरोना पॉजिटिव केस


कोरोना संक्रमित की संख्या बढ़कर हुई 56


 


हमीरपुर जनपद। कोरोना का कहर बराबर जारी है, रविवार को कोरोना कोई नया मामला सामने ना आने पर जिला प्रशासन और स्वास्थ विभाग ने राहत की सांस ली थी, लेकिन सोमवार को आई जांच रिपोर्ट में एक साथ 13 पॉजिटिव केस निकलने से स्वास्थ विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया है, सीएमओ हमीरपुर डॉ आरके  सचान ने बताया कि सोमवार को 30 लोगों की जांच रिपोर्ट आई है, जिनमें 13 पॉजिटिव केस पाए गए हैं, बताया पांच केस कुरारा में, सरीला के इंद्रपुरा मैं 2 व 6 संक्रमित मरीज राठ के नौरंगा में पाए गए हैं, जनपद में अब कोरोना संक्रमितओं की संख्या 56 पहुंच चुकी है, लगातार बढ़ रहे कोरोना मरीजों को लेकर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग सकते में हैं, बता दें कि संक्रमित पाए गए मरीजों में राठ निवासी महिला की मौत हो चुकी है, जबकि 12 लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं, 45 केस इस समय एक्टिव हैं!


आईआरएस अधिकारी ने की आत्महत्या

नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना का संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है। राजधानी में अब कोरोना के डर आत्महत्या करने का भी एक मामला सामने आया है। द्वारका इलाके में कोरोना संक्रमण के डर से आईआरएस अधिकारी शिवराज सिंह ने एसिड जैसा पदार्थ पीकर आत्महत्या कर ली। जब परिजनों को इस बात का पता चला तो वो उन्हें लेकर अस्पताल पहुंचे। इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई वह आयकर विभाग में एडिशनल डायरेक्टर के पद पर तैनात थे।


बता दें कि करीब 3 दिन पहले ही उनका कोरोना टेस्ट हुआ था, जिसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। इसके बावजूद उन्हें लगता था कि कोरोना होने पर बच्चे व परिवार के अन्य लोग परेशान हो जाएंगे। उनकी उम्र 56 साल थी उनके घर से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ जिसमें उन्होंने लिखा है कि वो कोरोना के शक के चलते आत्महत्या कर रहे हैं। द्वारका जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार वर्ष 2006 के आईआरएस अधिकारी शिवराज सिंह द्वारका के सेक्टर- 6 स्थित सन्मति अपार्टमेंट में रहते थे। उनकी ड्यूटी आरके पुरम स्थित आयकर विभाग के कार्यालय में थी। सुसाइड नोट में उन्होंन बच्चों को परेशान नहीं करने की बात कही है। साथ ही ऑफिस से भी परेशान नहीं करने की बात कही है। फिलहाल द्वारका पुलिस मामले की जांच कर रही है बता दें कि कुछ दिन पहले ही चाणक्यपुरी इलाके में भी वरिष्ठ आईआरएस अधिकारी केशव सक्सेना ने भी फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।


राज्यसभा की 19 सीटों पर 19 को चुनाव

राज्यसभा की 19 सीटों पर 19 जून को चुनाव


बीजेपी ने झारखंड में कांग्रेस का गणित बिगाड़ा


कांग्रेस-BJP को गुजरात में 1 वोट की जरूरत


नई दिल्ली। देश के 8 राज्यों की 19 राज्यसभा सीटों पर 19 जून को होने वाला चुनावी मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है। कांग्रेस और बीजेपी के बीच राज्यसभा चुनाव में शह-मात का खेल जारी है। हालांकि, बीजेपी ने मध्य प्रदेश और गुजरात के बाद अब कांग्रेस को राजस्थान में भी उलझा कर रख दिया है। झारखंड का समीकरण भी बीजेपी ने अपने पक्ष में कर लिया और कांग्रेस दिल्ली में बैठकर रणनीति बनाती रही. इस तरह से बीजेपी ने कांग्रेस के राज्यसभा चुनाव गणित को बिगाड़ कर रख दिया है।

गुजरात का राज्यसभा चुनाव दिलचस्पः गुजरात की चार राज्यसभा सीटों पर पांच उम्मीदवारों के मैदान में उतरने से चुनावी मुकाबला दिलचस्प मोड़ पर है। बीजेपी की ओर से राज्यसभा के लिए अभय भारद्वाज और रमीवा बेन बारा के साथ तीसरे कैंडिडेट के तौर पर नरहरि अमीन मैदान में हैं तो कांग्रेस की ओर से राज्यसभा के लिए शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी किस्मत आजमा रहे हैं।

गुजरात में बीजेपी के पास 103 विधायक हैं जबकि कांग्रेस के पास 65 विधायक बचे हैं। वहीं, 2 बीटीपी, एक एनसीपी और एक निर्दलीय विधायक हैं। राज्यसभा के एक सदस्य को जीतने के लिए 35 वोटों की जरूरत है। ऐसे में कांग्रेस अगर बीटीपी, एनसीपी और एक निर्दलीय विधायक जिग्नेश मवानी का समर्थन हासिल करने में कामयाब रहती है तो उसे दोनों सीटें जीतने के लिए एक विधायक के समर्थन की दरकार होगी। वहीं, कांग्रेस ने शक्ति सिंह गोहिल को प्रथम कैंडिडेट बनाकर उनकी राह को आसान कर दिया है, लेकिन भरत सिंह सोलंकी को अपनी सीट जीतने में कड़ी मशक्कत करनी होगी।

 

झारखंड में कांग्रेस का बिगड़ा खेलः झारखंड की 2 राज्यसभा सीटों पर 3 उम्मीदवारों के मैदान में उतरने से चुनावी मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है। जेएमएम से शिबू सोरेन राज्यसभा के लिए मैदान में उतरे हैं तो बीजेपी से झारखंड के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश मैदान में है। वहीं, कांग्रेस से शहजादा अनवर किस्मत आजमा रहे हैं। कांग्रेस प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह व पर्यवेक्षक पीएल पुनिया दिल्ली में बैठकर रणनीति बनाते रहे और भाजपा ने समीकरण पूरी तरह से अपने पक्ष में कर लिया। झारखंड के मौजूदा विधायकों के आंकड़े के लिहाज से जेएमएम के शिबु सोरेन की एक सीट पक्की है और दूसरी सीट के लिए कांग्रेस और बीजेपी के पास अपने दम पर जीतने के लिए पर्याप्त आंकड़े नहीं हैं। ऐसे में दोनों पार्टियों के बीच विधायकों के जोड़-तोड़ की कवायद तेज हो गई है। बीजेपी ने निर्दलीय विधायक सरयू राय का समर्थन जुटा लिया है।

 

राज्यसभा की एक सीट के लिए 27 वोट चाहिए. बीजेपी के पास विधायकों की संख्या 25 है। बाबूलाल मरांडी के शामिल होने के बाद यह संख्या बढ़कर 26 हो गई और सरयू राय का साथ मिलने के बाद यह आकंड़ा 27 पहुंच गया है। साथ ही बीजेपी को अपने पुराने सहयोगी आजसू व निर्दलीय विधायक अमित यादव का समर्थन मिल जाता है यह संख्या 30 पहुंच जाएगी। वहीं, राजेंद्र सिंह के निधन व प्रदीप यादव और बंधु तिर्की के शामिल होने के बाद कांग्रेस का आंकड़ा फिलहाल 17 का है। इसके बावजूद कांग्रेस अगर जेएमएम के दो, माले, आरजेडी और एनसीपी के एक-एक वोट मिलने पर विधायकों की संख्या 22 पर ही है। इसके बावजूद कांग्रेस को जीत के लिए पांच विधायकों की जरूरत पड़ेगी।

मध्य प्रदेश में सियासी घमासानः मध्य प्रदेश में तीन राज्यसभा सीटों पर चार प्रत्याशी के मैदान में उतरने से मुकाबला काफी रोचक हो गया है। बीजेपी से ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह सोलंकी तो कांग्रेस से दिग्विजय सिंह और फूल सिंह बरैया की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। कांग्रेस ने फर्स्ट प्रायोरिटी दिग्विजय और सेकेंड पर बरैया को रखा है जबकि, बीजेपी ने फर्स्ट पर सिंधिया और दूसरी पर सोलंकी को रखा है। कांग्रेस विधायकों से बगावत के बाद राज्यसभा का गणित बिगड़ गया है।

विधानसभा में बीजेपी के पास 107 विधायक हैं, कांग्रेस के विधायकों की संख्या 92 है। बसपा के 2 विधायक हैं, 1 विधायक सपा से है और 4 विधायक निर्दलीय हैं। मध्य प्रदेश विधानसभा में 24 सीटें फिलहाल खाली हैं। बसपा, सपा और निर्दलीयों के वोटों की कुल जमा तादाद 7 होती है। मौजूदा परिस्थिति में दो सीटें बीजेपी के पाले में साफ जाती नजर आ रही हैं। हालांकि, एक सीट जीतने के लिए प्रथम वरीयता में 52 मतों की जरूरत है, जो बीजेपी के पास अपने बलबूते मौजूद है। कांग्रेस का दूसरा उम्मीदवार तभी जीत सकता है, जब उसे चारों निर्दलीय, दो बसपा और एक सपा विधायक के साथ पांच बीजेपी विधायकों के मत मिलें, जो फिलहाल तो दूर की कौड़ी ही नजर आता है।

राजस्थान में कांग्रेस परेशानः राजस्थान की तीन राज्यसभा सीटों पर चार प्रत्याशियों चुनावी मैदान में होने के चलते काफी रोचक मुकाबला बन गया है। कांग्रेस की ओर से केसी। वेणुगोपाल के अलावा दूसरे उम्मीदवार नीरज डांगी हैं। वहीं, बीजेपी ने राजेंद्र गहलोत और ओंकार सिंह लखावत को मैदान में उतार कर कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ा दी है। हालांकि विधायकों के आंकड़ो के लिहाज से कांग्रेस की दो सीटें पक्की है, लेकिन क्रॉस वोटिंग का डर भी सता रहा है। राजस्थान के विधानसभा में मौजूदा समय में कांग्रेस के 107 विधायक हैं, इसमें पिछले साल बीएसपी से टूटकर कांग्रेस में शामिल हुए 6 विधायक शामिल हैं। कांग्रेस को 12 निर्दलीयों का समर्थन भी हासिल है। दूसरी ओर, बीजेपी के 72 विधायक हैं, हनुमान बेनीवाल की पार्टी आरएलपी के तीन विधायकों का समर्थन मिलाकर यह आंकड़ा 75 पहुंचता है। एक राज्यसभा सीट के लिए 51 प्रथम वरीयता वाले विधायकों के वोटों की आवश्यकता होती है, ऐसे में कांग्रेस की राह आसान लग रही है। बीजेपी के दूसरे उम्‍मीदवार के जीतने की संभावना उसी स्थिति में बन सकती है, यदि पर्याप्‍त संख्‍या में कांग्रेस के विधायक क्रॉस वोटिंग करें और निर्दलीय विधायक भी बीजेपी के पक्ष में पाला बदल लें। इसीलिए कांग्रेस को बीजेपी से अपने विधायकों की सेंधमारी से बचाने के लिए मशक्कत करना पड़ रहा है।

आंध्र प्रदेश में वाईएसआर का पलड़ा भारी

आंध्र प्रदेश की 4 राज्यसभा सीटों पर पांच प्रत्याशी मैदान में हैं. वाईएसआर कांग्रेस की ओर से पिल्ली सुभाष चंद्रबोस, मोपीदेवी वेंकटरमणास आल्ला अयोध्या रामीरेड्डी और परिमल नत्वानी मैदान में है। वहीं, टीडीपी की ओर से वर्ला रामय्या मैदान में हैं। हालांकि, वाईएसआर की ओर से चौथी सीट के लिए परिमल नत्वानी मैदान में हैं, जिन्हें जगन मोहन रेड्डी ने उद्योगपति मुकेश अंबानी के अनुरोध पर टिकट दिया है।नत्वानी दो टर्म झारखंड से राज्यसभा सदस्य रहे हैं। परिमल नत्वानी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की शीर्ष कोर टीम में शामिल हैं। पूर्वोत्तर में भी कड़ा मुकाबलाः पूर्वोत्तर के मणिपुर, मेघालय औक मिजोरम की एक-एक राज्यसभा सीटों पर भी चुनाव हो रहे हैं। मेघालय में कांग्रेस के कनेडी कोमेलियस के खिलाफ मेघालय डेमोक्रेटिक गठबंधन से उतरे वंसुख सीम के बीच मुकाबला है। वहीं, मणिपुर की एक राज्यसभा सीट के लिए तीन प्रत्याशी किस्मत आजमा रहे हैं। इनमें बीजेपी से तितुलर किंग महाराजा संजाओबा लिसीम्बा, कांग्रेस से पूर्व मंत्री टोंगब्रम मंगिबाबू और नगा पीपुल्स फ्रंट होनरीकुई काशुंग के बीच मुकाबला है।

मिजोरम की एक राज्यसभा सीट पर सत्ताधारी मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) युवा शाखा के पूर्व अध्यक्ष के वनलालवेना मैदान में हैं, जबकि मुख्य विपक्षी दल जेडपीएम ने अपने महासचिव बी लालछानजोवा पर भरोसा जताया है. कांग्रेस ने अपने प्रवक्ता और मीडिया विभाग के अध्यक्ष लल्लियानछुंगा पर दांव लगाया है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


 जून 16, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-308 (साल-01)
2. मंगलवार, जूूून 16, 2020
3. शक-1943, अषाढ़, कृष्ण-पक्ष, तिथि-दसवीं, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:36,सूर्यास्त 07:28।


5. न्‍यूनतम तापमान 24+ डी.सै.,अधिकतम-41+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...