मंगलवार, 15 अक्तूबर 2019

डोरबैल खराब है, मोदी-मोदी चिल्लाए

अंबाला। जिले की एक मुस्लिम बस्ती में लोगों ने अपने-अपने घरों के बाहर पोस्टर चिपका दिए हैं कि डोर बेल खराब है, कृपया दरवाजा खुलवाने के लिए मोदी-मोदी चिल्लाएं। इन पोस्टरों को क्यों चिपकाया गया और इसके पीछे कारण क्या है ? इसकी सच्चाई जानने के लिए जब यहां के लोगों से बात की गई, तो उन्होंने बताया कि इस चुनावी समर में बहुत से प्रत्याशी वोट अपील करने उनके घर आ रहें हैं, जिसके कारण वह बार बार डोर बेल बजाते हैं। लिहाजा यह पोस्टर उन्होंने उन्हीं प्रत्याशियों के लिए लगाए हैं कि वह डोर बेल न बजाएं। क्योंकि यह दरवाजा सिर्फ मोदी-मोदी बोलने वालों के लिए खुलेगा।
मुस्लिम बस्ती में रहने वाली महिलाओं ने बताया की जिस तरह मोदी ने तीन तलाक बिल पास करवाया है, वह उनके लिए बहुत बड़ी बात हैं। क्योंकि उनके समाज में कुछ लोग टेलीफोन पर ही तीन बार तलाक बोल कर महिलाओं को मिट्टी में मिला देते थे और ऐसे में जमीन और आसमान दोनों रोते हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।
उन्होंने कहा कि कानून और पुलिस के डर से तलाक के केसों में भारी कमी आएगी। बस्ती के अन्य लोगों ने इन पोस्टरों के पीछे यही कारण बताया कि उनका वोट सिर्फ मोदी के लिए है। उन्होंने कहा कि ये पोस्टर ऐसे ही लगे रहेंगे क्योंकि मोदी ने उन लोगों के लिए बड़े काम किये हैंं। भले ही उसमे आयुष्मान योजना हो, उजाला योजना या कोई और काम, उनके लिए उनके नेता मोदी हैं। लिहाजा वो नहीं चाहते की किसी और पार्टी का कोई नेता उनके घर आ कर वोट मांगे।


कुछ समय के लिए ड्यूटी खत्म की:ओपी सिंह

लखनऊ। यूपी सरकार द्वारा 25 हजार होमगार्ड जवानों की सेवाएं लेने से इनकार करने के बाद प्रदेशभर के होमगार्डस में बैचेनी बढ़ गई है। इस बीच डीजीपी ओपी सिंह ने राहत देते हुए कहा है कि होमगार्डों को बेरोजगार नहीं किया गया है। कुछ समय के लिए ड्यूटी खत्म की गई है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बढ़े वेतन और बजट को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। हालांकि, उन्होंने यह अभी नहीं बताया कि होमगार्डों की ड्यूटी कब तक नहीं लगेगी।


गर्भ में नवजात की दर्दनाक मौत

गोण्डा। गोंडा महिला अस्पताल का हाल जान आप दंग रह जायेगे। गैर जनपद से आयी महिला प्रसूता महिला फर्श पर पड़ी तड़पती इलाज की भीख मांगती रही। लेकिन डाक्टरो व कर्मचारियो मे नही दिखी मानवीय संवेदना, न तो इलाज किया न ही रेफर, जन्म से पहले ही शिशु की गर्भ मे ही मौत हो गई। बाहर ले जाने के लिए एंबुलेंस भी उपलब्ध नही करा सका।


जनपद बलरामपुर के श्रीदत्तगंज थाना उतरौला के अंतर्गत श्रीदत्तगंज मे रहने वाली गर्भवती महिला, यशोदा देवी को जिला बलरामपुर महिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों ने जवाब दे दिया, गोंडा जिला महिला अस्पताल में लाकर महिला को भर्ती कराया। सोमवार को महिला अस्पताल की डॉक्टर ने बताया कि पेट में बच्चा मर चुका है। यहां हमारे पास संसाधन नहीं है इसलिए इसको लखनऊ ले जाओ। परिजनों का आरोप है प्रसूता को भर्ती करने के दो दिन बाद भी इलाज न करने से पेट मे ही बच्चे की हुई मौत, वहीं डॉक्टरों ने गर्भवती महिला को रेफर करने के बाद अस्पताल प्रशासन ने महिला को गेट के सामने फेंक दिया। महिला वार्ड के सामने तड़पती रही, न तो एम्बुलेंस मिला, न इलाज हो सका। तमाम लोगो की भीड लग गयी, लोग सीएमएस से इस सम्बन्ध मे जानकारी करना चाहा तो सीएमएस ने डॉक्टरों का किया बचाव। कहा एम्बुलेंस के इंतजार में फर्स पर पड़ी थी महिला,गैर जनपद से आने के कारण प्रसूता का नही किया गया इलाज। लोगो की माने तो जिला महिला चिकित्सालय मे डाक्टरो की मनमानी का यह आलम है कि बिना जुगाड़ का उपचार हो पाना मुश्किल है। यह मामला जिला महिला अस्पताल गोंडा का है। जब रक्षक ही भक्षक हो जाय तो, यही होता है। सरकार के सारे दावे झूठे व दिखावे साबित हो सकते है ।
सीएमएस अनंत प्रकाश मिश्र महिला अस्पताल कहते है कि प्रसूता को रेफर किया गया था। एम्बुलेंस आने मे देरी हुई प्रसूता महिला स्वयं फर्श पर पड़ी थी।


राहुल तिवारी कि रिपोर्ट


सभी जिलों में इंडोर स्टेडियम:छत्तीसगढ़

रायपुर। छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में इंडोर स्टेडियम बनाए जाएंगे। लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने मंगलवार को रायपुर के सिविल लाइन स्थित नवीन विश्राम भवन में लोक निर्माण विभाग की समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिए। इस बैठक में कार्यपालन अभियंता राज्यभर से पहुंचे। उन्होंने संभागवार सड़कों के संधारण तथा वार्षिक बजट में शामिल सड़क और पूल आदि कार्यों की ढाचांगत स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने सड़कों की मरम्मत और निर्माण कार्यो में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने मुख्य रूप से प्रदेश के सभी मार्गों को गड्ढा मुक्त करने हेतु आवश्यक मरम्मत कार्य, गुणवत्ता के साथ शीघ्र पूर्ण करने कहा।


महिला ने लगाया फंदा,पुलिस जांच जारी

प्रयागराज। मुंडेरा चुंगी के पास अश्विनी केसरवानी लाटरी का धंधा करता है। उसकी तीन साल पूर्व कोरांव की अंजली 24 से शादी हुई थी। मंगलवार की सुबह कोरांव स्थित अंजली के मायके वालों को मोबाइल पर बताया कि उसने फांसी के फंदे पर लटक कर आत्‍महत्‍या कर ली है। इसी दौरान सूचना पर पुलिस पहुंची और शव को फांसी के फंदे से नीचे उतारा। जानकारी मिलने पर कोरांव से मायके वाले आ गए हैं। उन्‍होंने महिला की संदिग्‍ध मौत देख ससुरालवालों पर हत्‍या का आरोप लगाया है। तहरीर दी जाने के बाद पति और ससुर को पुलिस ने हिरासत में लिया। मामले की जांच पुलिस कर रही है।


204 टीम घर घर जाकर सक्रिय कर रही सक्रीय क्षय रोगियों की पहचान 
अब तक 41 चिन्हित हुए सक्रिय क्षय रोगी   


प्रयागराज। सक्रिय क्षय रोगियों की पहचान के लिए चलाये गये सक्रिय टीबी खोज अभियान की शुरुवात की गयी |
इस अभियान के अंतर्गत गठित 201 टीमों ने घर–घर जाकर प्रत्येक व्यक्ति की जाचं कर रही हैं , अगर टीम द्वारा किसी व्यक्ति में टीबी के लक्षण प्रतीत हुए तो उनका बलगम लेकर जाचं के लिये भेजा गया | अभियान के अंतर्गत पूरे जनपद की जनसंख्या के 10% जनसंख्या का लक्ष्य निर्धारित किया गया जिसमे  6 लाख 64 हज़ार 405 लोगो को कवर करने का लक्ष्य रखा गया |
पब्लिक प्राइवेट मिक्स कोऑर्डिनेटर आशीष सिंह ने बताया की इस अभियान को सफल बनाने के लिए जनपद में कुल 204 टीमों का गठन किया गया था, जो घर घर जाकर प्रत्येक व्यक्ति की जाचं कर रही हैं  एक टीम एक दिन में पचास घरो का भ्रमण करेगी साथ ही इन टीमों की निगरानी करने के लिए 45 सुपरवाइजरो को लगाया गया हैं | इसके अलावा उन्होंने बताया की ऐसे क्षेत्र जहाँ पहले से ही टीबी के मरीज चिनिह्त थे, उन क्षेत्रो में जाकर समूह बैठक करके लोगो को जागरूक किया गया | उन्होंने बताया की जिस व्यक्ति में टीबी की पुष्टि होती है, उस मरीज को तुरंत दवा उपलब्ध कराई जाती है |इस अभियान के तहत कुल 31 टीयू (ट्रीटमेंट यूनिट) में सक्रिय टीबी खोज का कार्यक्रम चलाया गया था | उन्होंने बताया कि अब तक 175582 लोगो की स्क्रीनिग की गई जिसमे से 41 सक्रीय मरीज पायें गए सबसे ज्यादा  11 सक्रिय मरीज शंकरगढ़ में पाए गए हैं |
डॉ. ए. के जिला क्षय रोग अधिकारी प्रयागराज ने बताया की सक्रिय टीबी खोज कार्यक्रम को स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा बहुत मेहनत कार्य को करते हुए लोगो को टीबी के प्रति जागरूक किया जा रहा हैं निगरानी टीम द्वारा समय समय पर निरक्षण तथा सहयोग भी डोर टू डोर की टीम को दिया जा रहा हैं |  पिछले चरण में समुदाय के लोगो ने बहुत अच्छा सहयोग किया और विभागीय स्टाफ ने कड़ी मेहनत से कार्य को करते हुए लोगो को टीबी के प्रति जागरूक कियााा


रिपोर्ट बृजेश केसरवानी



'ओढ़नी राजपूत कल्चर'कार्यक्रम संपन्न

इंदौर। कहते हैं भगवान राम के पिता राजा दशरथ जब युद्ध पर जाते थे तो अपने साथ पत्नी कैकेयी को भी रणक्षेत्र में ले जाते थे। वो भी दुश्मनों से लोहा लेती थीं। कथा ऐसी भी है कि एक बार राजा दशरथ जब घायल हो गए थे तो कैकेयी गजब के शौर्य का प्रदर्शन करते हुए उन्हें युद्ध क्षेत्र से सुरक्षित निकालकर लाई थीं। जिसके बाद राजा दशरथ ने उन्हें दो वरदान मांगने को कहा था और इस तरह भगवान राम के वनवास और राक्षसों के संहार की पृष्ठभूमि बनी। वीरांगना कैकेयी जैसी ही हैं आज की राजपूत वीरांगनाएं। ये न केवल घर को संभाल रही हैं, बल्कि पति के साथ कंधे से कंधा मिलाकार बाहर की जिम्मेदारियों में भी हाथ बंटा रही हैं।


जो मातृत्व शक्ति घर में ओढ़नी ओढ़कर पति को लुभाती है वो वक्त पड़ने पर रणचंडी भी बन जाती है। सौंदर्य और शौर्य की प्रतीक ऐसी ही राजपूत घराने की महिलाओं और लड़कियों ने इंदौर स्थित एक गार्डन में आयोजित 'ओढ़नी राजपूत कल्चर' कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। एक तरह उन्होंने राजपूताना परिधानों में पूरे ग्रेस के साथ रैंप पर वॉक करके 'मिस ओढ़नी, मिसेज ओढ़नी, ब्यूटीफुल स्माइल, हेयर स्टाइल, अट्रैक्टिव ज्वेलरी, सो ब्यूटीफुल नथ' जैसे अवार्ड जीते तो दूसरी तरफ थाली के ऊपर हाथों में कटार और बंदूकें लेकर तलवार डांस से अपने अद्भुत शौर्य को भी दर्शाया।


कुरीतियों को उखाड़ फेंकने का संकल्प:-राजपूतों के गौरवशाली इतिहास को युवाओं तक पहुंचाने और उन्हें अपनी जड़ों से जोड़ने के उद्देश्य से आयोजित कार्यक्रम में उन कुरीतियों की ओर भी ध्यान आकर्षित किया गया, जिनके चलते महिलाएं समाज में कहीं न कहीं दोयम दर्जे का शिकार हो जाती हैं और तरक्की की दौड़ में पीछे छूट जाती हैं। कार्यक्रम के दौरान वक्ताओं ने पूरी मजबूती के साथ इन कुरीतियों से लड़ने और इन्हें पूरी तरह दूर करने का संकल्प लिया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि झाबुआ महारानी दीप्ति सिंह और विशेष अतिथि विधायक ऊषा ठाकुर थीं। इस मौके पर जीतू परिहार, मालिनी गौड़ और माला ठाकुर मौजूद थीं। कार्यक्रम का संयोजन टि्वंकल राठौर और श्यामली सिद्धार्थ ने किया।


शस्त्रों के साथ शास्त्रों का पूजन:-क्षत्राणी संगम क्लब परिवार ने दशहरे के उपलक्ष्य में शास्त्र और शस्त्र पूजन किया। कार्यक्रम में बेटी बचाओबेटी पढ़ाओ, बिटिया का भविष्य सुरक्षित बनाओ का संकल्प भी दिलाया गया। क्षत्राणी संगम क्लब परिवार की सपना राठौर, उर्मी चौहान, रंजना दीखित, सपना तंवर ने बताया कि क्लब राजपूताना परंपराओं, संस्कृति और संस्कारों को सिंचित और संवर्धित करने के साथ ही सामाजिक सरोकार से जुड़े मुद्दों पर भी कार्य करता है। कार्यक्रम में राजपूती पोशाकों में क्षत्राणियां और बच्चे थे, तो साफे में राजपूत सरदारों ने शास्त्र और शस्त्र पूजन कर युवाओं को संस्कृति से रूबरू कराया। कार्यक्रम की शुरुआत हनुमान चालीसा के पाठ से की गई। क्षत्राणी संगम क्लब द्वारा आयोजित विरासत और परंपरा के इस उत्सव में शस्त्रों के साथ शास्त्रों का पूजन किया गया ताकि नई पीढ़ी पुराने ज्ञान के भंडार को भी समझें और जानें कि पुरातन भारतीय विज्ञान कितना उन्नत था। कार्यक्रम में राम स्तुति, हनुमान चालीसा और दुर्गा स्तुति भी की गई। इस कार्यक्रम में शस्त्रों के साथ पुराने शास्त्र जैसे वेद, पुराण, गीता, रामायण और इनके साथ आधुनिक किताबें जैसे मेडिकल, मैनेजमेंट, लॉ और अन्य विषयों की प्रदर्शनी भी लगाई गई थी। कार्यक्रम में मृदुला सिसोदिया, गीताजंलि पंवार, पल्लवी पंवार सहित 150 से अधिक परिवार की महिलाएं, पुरुष और युवा उपस्थित थे।


मकान में लगी भीषण आग चार जिंदा जले

झांसी। उत्तर प्रदेश के झांसी में एक मकान में भीषण आग लगने से 4 लोगों की जिंदा जलकर मौत हो गई। चारों एक ही परिवार के सदस्य बताए जा रहे हैं। वहीं, घटना में एक शख्स गंभीर रूप से घायल है, जबकि 4 लाेगों को पड़ोसियों ने सीढ़ी लगाकर बचाया। जानकारी के मुताबिक, इस हादसे में जगदीश, कुमुदबाला, रजनी और एक बच्चे की मौत बताई जा रही है। वहीं, पड़ोसियों ने जिन 4 लोगों को बचाया, वे छत पर सो रहे थे। स्थानीय लोग किसी बड़ी साजिश की आशंका व्यक्त कर रहे हैं। मौके पर पुलिस प्रशासन के अफसर पहुंच गए हैं। घटना पर डीआईजी सुभाष सिंह बघेल ने कहा कि मौके पर सीएफओ जांच कर रहे हैं। हादसे में जगदीश व उनके परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई है। जांच के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी।
घटना सीपरी बाजार थाना क्षेत्र के लहरगिर्द मंदिर के पास की है। यहां जेके उदैनियां के घर में देर रात संदिग्ध परिस्थितियों में भीषण आग लग गई। आग इतनी भयानक थी कि कमरे में सो रहे पांच लोगों में से 4 लोगों की जिंदा जलकर मौत हो गई। वहीं, एक व्यक्ति को गंभीर हालत में मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे पुलिस अफसरों ने घटनास्थल की बारीकी से मुआयना किया।
स्थानीय लोगों ने उठाए कई सवाल:-स्थानीय लोगों की मानें तो जिस घर में आग लगी थीी। उस घर में बनी दुकान का शटर दुकान के बाहर निकला पड़ा था। जिस कमरे में चार लोगों की आग की चपेट में आकर मौत हो गई थी, उस कमरे के बराबर में बने गोडाउन का गेट खुला हुआ था। साथ ही कमरे के बराबर में बने दूसरे कमरे का दरवाजा भी खुला हुआ थाा। साथ ही घर के पीछे लगा गेट भी खुला हुआ थाा। वहीं, जिस कमरे में आग लगी थी, उस कमरे की खिड़की के बाहर लगे कूलर को भी बाहर से हटाया गया थाा। फिलहाल जिस तरह के हालात घटना स्थल पर मिले हैं, उसको देखकर एक बड़ी साजिश की आशंका जताई जा रही है। हालांकि, पुलिस का कहना है कि जांच की जा रही है।


हरकोलिन ग्रस्त अद्भुत बच्चे का जन्म

पीलीभीत। बच्चे की हालत को नाज़ुक देखकर उसे लखनऊ रेफर कर दिया गया है। बीती रात पीलीभीत के जिला अस्पताल में एक नवजात शिशु का जन्म हुआ। जिसको देखकर परिजनों के भी होश उड़ गए और वह घबरा गए। तुरंत बच्चे को पीलीभीत जिला सरकारी अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ नुरुल कमर को दिखाया। डॉ नुरुल कमर ने बच्चे को देखकर बताया कि ये बच्चा हरकोलिन नाम की बीमारी से ग्रस्त है। जो यूपी में जन्मे 30 लाख बच्चों में ये पहला केश है। ऐसे केस बहुत ही कम होते हैं कभी कभी ऐसे अदभुत बच्चे जन्म लेते हैं। जिसको देखकर डॉ ने बच्चे को तुरंत ही लखनऊ हायर सेंटर को रेफर कर दिया। जहां पर उसकी जांचे होने के बाद स्थिति स्पष्ट होगी। बच्चे को देखकर लोगों के अलग अलग विचार थे कोई इसे कुछ कह रहा था कोई कुछ।


 


आईसीसी ने किए नियम में फेरबदल

नई दिल्ली। आईसीसी यानी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने क्रिकेट के एक बेहद खास नियम में बड़ा फेरबदल किया है। इसका संबंध सीधे-सीधे इसी साल हुए वर्ल्ड कप के फाइनल मुकाबले से है। दर्शन इस फाइनल मैच में मैच नतीजा इंग्लैंड के पक्ष में गया था। जबकि इस मैच में न्यूजीलैंड ने भी समान रन बनाया था। इंग्लैंड बाउंड्री अकाउंट में जीत गया था। सबसे दिलचस्प बात यह थी कि सुपर ओवर में भी मैच का नतीजा टाई ही रहा। आईसीसी के इस फैसले के बाद क्रिकेट प्रेमियों ने गहरी नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने इसे फाइनल के साथ विजेता के साथ अन्याय बताया था।


क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के फाइनल के बाद बाउंड्री नियम पर विवाद के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने सोमवार को इसमें सुधार किया। बोर्ड मीटिंग के बाद आईसीसी ने कहा कि अगर फाइनल और सेमीफाइनल मैच टाई होता है तो सुपर ओवर तब तक जारी रहेगा, जब तक एक टीम दूसरी टीम से ज्यादा रन ना बना ले। ये नियम वनडे और टी20 में लागू होगा।


इस बार विश्व कप का फाइनल इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया था। फाइनल में मैच और सुपर ओवर दोनों टाई रहे थे। इसके बाद इंग्लैंड को बाउंड्री नियम के आधार पर विजेता करार दिया गया था।


सुपर ओवर का नियम रोमांचक, वनडे-टी20 में जारी रहेगा।


बोर्ड मीटिंग के बाद आईसीसी ने कहा- आईसीसी क्रिकेट कमेटी की अनुशंसा पर चीफ एग्जीक्यूटिव्स सहमत हो गए हैं। आईसीसी टूर्नामेंटों में फाइनल का फैसला करने के लिए सुपर ओवर का नियम जारी रहेगा। यह टी20 और वनडे मैचों में फाइनल का फैसला करने के लिए रोमांचक तरीका है और हम इसे बनाए रखेंगे।


कलाम को नम आंखों से याद किया

नई दिल्ली। महान वैज्ञानिक, पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न डॉ एपीजे अब्दुल कलाम साहब का आज 88वां जन्मदिन है। उनके चाहने वाले आज उन्हें नम आंखों से याद कर रहे है। नए भारत के निर्माण में उनके योगदान को कभी भुलाया नही जा सकेगा।


पूर्व राष्ट्रपति के जन्मदिन पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए लिखा है कि उन्होंने 21वीं सदी के सक्षम और समर्थ भारत का सपना देखा और इस दिशा में अपना विशिष्ट योगदान दिया। उनका आदर्श जीवन देशवासियों को सदैव प्रेरित करता रहेगा।


अयोध्या में होगा अद्भुत-भव्य दीपोत्सव

अयोध्या। धार्मिक नगरी अयोध्या में दीपावली के अवसर पर शुरू किया गया। दीपोत्सव देश दुनिया में अपनी नई पहचान बना चुका है और इस वर्ष दीपोत्सव को पहले से भी कहीं अधिक वृहद और भव्य बनाने की तैयारी की जा रही है। इस मौके पर रिकार्ड संख्या में दिए जलाकर नया विश्व कीर्तिमान बनाने की तैयारी की जा रही है। दीपोत्सव 24 से 26 अक्टूबर के बीच अयोध्या में होगा और इस बार लगभग चार लाख दिए जलाकर पिछले बार के विश्व रिकॉर्ड को तोड़ने की तैयारी हो रही है. पिछली बार 3 लाख से अधिक दिए जलाए गए थे। पिछले वर्ष पवित्र सरयू नदी के किनारे जलाए गए। यह दिए लगभग 45 मिनट तक जले और भव्यता को देश-दुनिया में खूब देखा गया और सराहा गया।


विस्फोट में 11 पुलिस अधिकारियों की मौत

नैरोबी। केन्या में सोमालिया के साथ लगने वाले दक्षिणी सीमा पर सड़क किनारे हुए एक जोरदार बम विस्फोट में पुलिस के 11 अधिकारियों की मौत हो गई है। पुलिस प्रमुख ने यह जानकारी दी है। महानिरीक्षक हिलेरी मुत्यमबई ने शनिवार को बताया कि अधिकारियों की गश्ती कार को लिबो कस्बे के पास दामाजले हारे मार्ग पर धमाका कर उड़ा दिया गया। अब तक किसी ने इस धमाके की जिम्मेदारी नहीं ली है। लेकिन इस बात की पूरी आशंका है कि सोमालिया के अल शबाब आतंकवादियों ने इस पूरी वारदात को अंजाम दिया है।


पाकिस्तान ने फिर तोड़ा संघर्ष विराम

जम्मू। पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर मंगलवार को संघर्षविराम का उल्लंघन किया और जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर बगैर उकसावे के गोलाबारी की जिसका भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया।
रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने यहां बताया कि पाकिस्तान की ओर से साढ़े नौ बजे पुंछ जिले के कस्बा और किर्नी सेक्टरों में संघर्षविराम का उल्लंघन करना शुरू कर दिया। पाकिस्तानी सैनिकों ने बगैर किसी उकसावे के कस्बा और किर्नी सेक्टरों में छोटे हथियारों से गोलाबारी शुरू कर दी और मोर्टार से गोले भी दागे।


भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए सीमा पार गोलाबारी का करारा और प्रभावी जवाब दिया। पाकिस्तान की ओर से संघर्षविराम उल्लंघन की यह चौथी घटना है। इससे पहले शुक्रवार को राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की गोलीबारी से घायल जवान की बाद में इलाज के दौरान मौत हो गयी। शहीद हो गया।
इस बीच, अंतर्राष्ट्रीय सीमा पार से पाक सेना ने कठुआ के हीरानगर सेक्टर में भी छोटे हथियारों से गोलीबारी की। सेना और बीएसएफ ने सीमा पार से पाकिस्तान की ओर से की जा रही गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया।


सड़क हादसे में 8 की मौत 10 घायल

रिपोर्ट-मनीष सिंह 
सुकमाा। छत्तीसगढ़ सीमा से लगे रआंध्रप्रदेश में सड़क हादसे में 8 लोगो की मौत हो गई है वही दस से ज्यादा लोग घायल है वही सभी घायल को रामपासोड़ावर्म अस्पतला में भर्ती सभी का इलाज जारी है बताया जारहा है कि यात्री बस अनियंत्रित होकर पलटने से हुआ हादसा हुआ वही राजमेन्द्री से भद्राचलम जा रही थी बस में सवार यात्रियों में मौके से 8 यात्री की हुई मौत हो गई और 10 से ज्यादा यात्री हैं घायल मरनपल्ली घाटी के पास बस पलटने से हुआ हादसा है।


राफेल से देशवासी खुश, कांग्रेस पशेमां

पीएम मोदी ने कहा :राफेल मिलने से 125 करोड़  देशवासियों को खुशी हुई लेकिन कांग्रेस को नहीं


थानेसर। हरियाणा के थानेसर की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गीता के ज्ञान की धरती पर आना हमेशा मेरे लिए बहुत सुखद अनुभव लेकर आता है। जब मैं पार्टी कार्यकर्ता था, तब भी अकसर कुरुक्षेत्र आना-जाना लगा रहता था और थानेसर के बासमती की खुशबू तो...कोई भूल ही नहीं सकता। उन्होंने कहा कि आज कुरुक्षेत्र ऐसे समय में आया हूं जब पूरा देश गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व की तैयारी में जुटा है। पूरे विश्व में गुरु नानक जी का प्रकाश पर्व भव्य तरीके से मनाया जाए, इसके लिए केंद्र सरकार पूरे प्रबंध कर रही है।


पीएम मोदी ने कहा कि दशहरे के दिन जब फ्रांस में पहला रफाएल फाइटर जेट भारत को मिला, तो आपको खुशी हुई या नहीं? भारत की सैन्य ताकत बढ़ी, इससे आपको गर्व हो रहा है, आप आनंदित हो रहे हैं, सवा सौ करोड़ देशवासियों का माथा ऊंचा हुआ है। लेकिन कांग्रेस के नेताओं को ना जाने क्या हो जाता है? जब-जब, जिस-जिस बात को लेकर देश खुश होता है, उस-उस बात को लेकर कांग्रेस के नेताओं को तकलीफ होने लगती है। और ये सिर्फ रफाएल तक सीमित मामले में नहीं है। हर उस बात पर जिससे भारत का गौरवगान होता है, भारत को सम्मान मिलता है, कांग्रेस के नेताओं का रवैया नकारात्मक ही रहता है। भारत को स्वच्छ भारत अभियान के लिए सम्मान मिलता है, तो इनको दिक्कत होती है।


उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में भी हमारे बाल्मीकि समाज, हमारे दलित परिवारों, हमारे पिछड़े परिवारों को उनके जायज अधिकार मिले, इसमें कांग्रेस और उसके जैसे दलों को क्या आपत्ति है। सरकार ने जब बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत की तब हरियाणा ने भी देश को सामाजिक परिवर्तन दिखाने की ठान ली। मुझे हरियाणा के अपने भाइयों और बहनों पर बहुत गर्व है, जिन्होंने हरियाणा में बेटियों की संख्या को सुधारने के लिए साफ मन से काम किया।


51 मवेशियों के साथ चार गिरफ्तार

बलरामपुर। विजयनगर पुलिस ने अवैध रुप से ले जाए जा रहे 51 नग मवेशी बरामद किए हैं। मवेशियों के साथ 4 आरोपी भी गिरफ्तार किए गए हैं। महावीरगंज में अवैध रुप से मवेशियों की तस्करी की जा रही थी, संवेदनशील मामला होने के चलते जैसी ही पुलिस को जानकारी लगी दल-बल सहित पुलिस तत्काल मौक पर पहुंची और आरोपियों को अपनी गिरफ्त में लिया।


ईला की वर्षगांठ पर रोयी काजल

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री काजोल के लिए यह सप्ताह काफी भावुक कर देने वाला है क्योंकि एक साल पहले आज ही के दिन यानी कि 12 अक्टूबर को उनकी फिल्म हेलीकॉप्टर ईला रिलीज हुई थी। इस मौके पर काजोल ने इंस्टाग्राम पर लिखा, हेलीकॉप्टर ईला के एक साल और संतुलन बनाए रखने व बहुत ज्यादा उत्साहित न होने की कोशिश कर रही हूं।


इस पोस्ट के साथ काजोल ने एक तस्वीर भी अपलोड की जिसमें वह खुशमिजाज अंदाज में पोज देते नजर आ रही हैं। प्रदीप सरकार द्वारा निर्देशित इस फिल्म में काजोल एक मां और एक महात्वाकांक्षी गायिका की भूमिका में नजर आई थीं। आने वाले समय में काजोल अपने पति व अभिनेता अजय देवगन के साथ तानाजी : द अनसंग वॉरियर में नजर आएंगी। दोनों इससे पहले साल 2008 में आई फिल्म यू मी और हम में साथ नजर आए थे।
45 वर्षीय यह अभिनेत्री नेटफ्लिक्स की आने वाली फिल्म त्रिभंगा के साथ ओटीटी प्लेटफॉर्म पर डेब्यू करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं। इसमें उनके साथ रेणुका शहाणे भी नजर आएंगी। बानिजय एशिया और एल्केमी प्रोडक्शन्स के साथ अजय देवगन फिल्मस इसके निर्माता हैं।


किसी ने कहा,प्यारी श्रद्धा और चीन

मुंबई। ऐक्ट्रेस श्रद्धा कपूर की गिनती बॉलिवुड की सबसे स्टाइलिश ऐक्ट्रेसेस में होती है। हर आउटिंग पर उनका फैशन सेंस देखने वाला होता है। हाल ही में उन्हें जिम के बाहर स्पॉट किया गया और इस दौरान भी उनके लुक ने लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर लिया। 


श्रद्धा ने येलो कलर की स्पोर्टस ब्रा के साथ ट्रांसपैरंट क्रॉप टॉप पहना था। इसके साथ उन्होंने ट्रांसपैरंट स्ट्रैप डिजाइन वाले टाइट्स पहने थे। साथ में गॉगल्स उनके लुक को और भी हॉट और सेक्सी बना रहे थे। श्रद्धा का यह जिम लुक देखते ही देखते सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बन गया। लोगों ने श्रद्धा के इस लुक की खूब तारीफें कीं। किसी ने उन्हें मेरी प्यारी श्रद्धा कहा तो किसी ने चीन।
प्रफेशनल फ्रंट की बात करें, तो श्रद्धा कपूर हाल ही में साहो और छिछोरे में नजर आई थीं। इन फिल्मों में उनकी ऐक्टिंग और लुक को काफी सराहा गया। अब जल्द ही वह स्ट्रीट डांसर 3 डी और बागी 3 में नजर आएंगी। स्ट्रीट डांसर 3 डी में जहां उनके ऑपोजिट वरुण धवन हैं, तो वहीं बागी 3 में वह टाइगर श्रॉफ के साथ नजर आएंगी।


एफएटीएफ की बैठक में पाक अलग-थलग

नई दिल्ली। फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठक में पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है। बैठक‍ में पाकिस्तान अलग-थलग पड़ता नजर आ रहा है। अब एफएटीएफ पाकिस्तान के खिलाफ कड़े कदम उठा सकता है। एफएटीएफ द्वारा कड़ी कार्रवाई के कगार पर खड़े पाकिस्तान को 'डार्क ग्रे' सूची में डाला जा सकता है, जो सुधरने की अंतिम चेतावनी है। संकेतों के अनुसार आर्थिक कार्रवाई कार्यबल (एफएटीएफ) की यहां चल रही बैठक में भाग लेने वाले अधिकारियों ने कहा है कि अगर पाकिस्तान ने जरूरी कदम नहीं उठाये तो उसे सभी सदस्यों द्वारा अलग-थलग कर दिया जाएगा।
एक अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान के अपर्याप्त प्रदर्शन को देखते हुए वह एफएटीएफ द्वारा कड़ी कार्रवाई के कगार पर है और वह 27 में से केवल छह बिंदुओं को पारित करने में कामयाब रहा। एफएटीएफ 18 अक्टूबर को पाकिस्तान पर अपने फैसले को अंतिम रूप देगा। एफएटीएफ के नियमों के अनुसार 'ग्रे' और 'ब्लैक' सूचियों के बीच एक अनिवार्य चरण है, जिसे 'डार्क ग्रे' कहा जाता है। 'डार्क ग्रे' का अर्थ है सख्त चेतावनी ताकि संबंधित देश को सुधार का एक अंतिम मौका मिल सके। एफएटीएफ एक अंतर-सरकारी निकाय है, जिसे धन शोधन, आतंकवादी वित्तपोषण और अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली की अखंडता के लिए अन्य खतरों का मुकाबला करने के लिए स्थापित किया गया है।


सरकारी बंगले में रहेंगे जोशी-आडवाणी

नई दिल्ली। भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और जसवंत सिंह के लुटियन दिल्ली स्थित सरकारी बंगलों का आवंटन विभिन्न आधार पर बरकरार रखने का सरकार ने फैसला किया है। सरकारी संपत्ति से अनधिकृत कब्जों की बेदखली के लिए हाल ही में संसद द्वारा पारित कठोर प्रावधानों वाले सार्वजनिक परिसर (अनधिकृत कब्जाधारियों की बेदखली) अधिनियम 2019 के तहत आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा पूर्व सांसदों के बंगले खाली कराए जाने की प्रक्रिया के बीच आडवाणी और जोशी को सुरक्षा कारणों से और सिंह के बंगले का आवंटन स्वास्थ्य कारणों से बरकरार रखा जाएगा। उल्लेखनीय है कि तीनों नेता अब संसद सदस्य नहीं हैं। आडवाणी और जोशी ने 17वीं लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ा था और सिंह लंबे समय से बीमार चल रहे हैं। मंत्रालय के संपदा निदेशालय के एक अधिकारी ने बताया कि संशोधित कानून के तहत सभी भूतपूर्व सांसदों के बंगलों का आवंटन रद्द कर बंगले खाली कराने की प्रकिया को तेजी से पूरा किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आडवाणी और जोशी के बंगले का आवंटन सुरक्षा कारणों से और सिंह के बंगले का आवंटन स्वास्थ्य कारणों से बरकरार रहेगा। उल्लेखनीय है कि 91 वर्षीय आडवाणी को पृथ्वीराज रोड और 85 वर्षीय जोशी को रायसीना रोड स्थित बंगला अवंटित हैं जबकि पूर्व रक्षामंत्री जसवंत सिंह को तीन मूर्ति लेन में सरकारी आवास आवंटित है।


महाराष्ट्र भाजपा का घोषणा पत्र जारी

मुंबई। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार को मुंबई में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 के लिए पार्टी का घोषणापत्र जारी किया। भाजपा के इस घोषणापत्र का नाम 'संकल्प पत्र' रखा गया है। घोषणापत्र जारी करने के बाद जेपी नड्डा ने कहा, 'देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र की राजनीतिक संस्कृति में मूल परिवर्तन किया है। पांच साल पहले महाराष्ट्र एक भ्रष्टाचार से ग्रसित प्रदेश था। आज देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में महाराष्ट्र भ्रष्टाचार से मुक्त प्रदेश बन गया है। जेपी नड्डा ने कहा,'यह संकल्प पत्र केवल कागज का एक टुकड़ा नहीं है बल्कि एक गंभीर दस्तावेज है और इसे बहुत अच्छी तरह से अध्ययन कर के तैयार किया गया है। कांग्रेस और अन्य पार्टियों ने घोषणापत्रों और इस तरह के अन्य पत्रों के प्रभाव को कम किया है। उन्होंने कहा,'घोषणापत्र को समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को ध्यान में रखकर बनाया गया है। हम गरीबों, गांवों, किसानों, आदिवासियों और अन्य पिछड़े वर्गों को मुख्यधारा में लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। जेपी नड्डा ने कहा, 'आने वाले 5 वर्षों में महाराष्ट्र को सूखे से मुक्त करेंगे। पश्चिम से बहने वाली नदियों के पानी को गोदावरी की घाटी से रुकवाकर मराठवाड़ा व उत्तर महाराष्ट्र के सूखाग्रस्त भाग में पहुंचाएंगे। मराठवाड़ा वाटर ग्रिड महत्वकांक्षी योजना के माध्यम से 11 बांधों को आपस में जोड़कर संपूर्ण मराठवाड़ा को पाइप लाइन से आपूर्ति करेंगे। कृष्णा कोयना व अन्य नदियों में बाढ़ के कारण बह जाने वाले अतिरिक्त पानी को पाश्चिम महाराष्ट्र के स्थायी सूखे भाग में लेकर जाएंगे।
उन्होंने कहा, 'आने वाले पांच सालों में एक करोड़ नौकरियों का निर्माण करेंगे। एक करोड़ परिवारों को महिला बचत समूह से जोड़कर रोजगार के विशेष अवसर उपलब्ध कराएंगे। 2022 तक प्रत्येक घर को पीने का शुद्ध पानी उपलब्ध कराएंगे। मूलभूत सुविधाओं के लिए केंद्र सरकार के सहयोग से 5 लाख करोड़ रुपये का निवेश करेंगे।


2016 से पहले मामलों में कानून लागू

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने काले धन के खिलाफ बने कानून के अप्रैल 2016 से पहले के मामलों में लागू न होने के दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश को निरस्त कर दिया है। पिछले 18 सितम्बर को जब सुप्रीम कोर्ट ने काला धन मामले में फंसे वकील गौतम खेतान पर आदेश सुरक्षित रखा था तभी इस बात का संकेत दिया था कि खेतान को राहत देने वाला दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश निरस्त हो सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट को निर्देश दिया कि वह गौतम खेतान की याचिका पर नए सिरे से सुनवाई करे।


दिल्ली हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि खेतान का मामला 1 अप्रैल 2016 से पहले का है। इसलिए काले धन के खिलाफ कानून लागू नहीं हो सकता। इस मामले में केंद्र सरकार ने दलील दी थी कि इसका हर मामलों पर बुरा असर होगा।


पिछले 21 मई को कोर्ट ने काले धन के खिलाफ बने कानून के अप्रैल 2016 से पहले के मामलों में लागू न होने के दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दिया था। दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। केंद्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाने की मांग की थी।


पिछले 16 मई को दिल्ली हाईकोर्ट ने इनकम टैक्स विभाग को निर्देश दिया था कि वो काले धन के मामले के आरोपी गौतम खेतान के खिलाफ अगले आदेश तक कोई भी निरोधात्मक कार्रवाई नहीं करे। जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल की अध्यक्षता वाली बेंच ने इनकम टैक्स विभाग के 22 जनवरी को गौतम खेतान के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज करने के आदेश पर रोक लगा दिया था।


गौतम खेतान ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर केंद्र सरकार के उस नोटिफिकेशन को चुनौती दी थी जिसमें अप्रैल 2016 में लागू काले धन से संबंधित कानून को जुलाई 2015 से लागू करने का आदेश दिया गया है। गौतम खेतान की ओर से वकील सिद्धार्थ लूथरा ने कहा था कि जब काले धन का कानून ही अप्रैल 2016 में लागू हुआ तो उसे जुलाई 2015 से कैसे प्रभावी माना जा सकता है। उन्होंने कहा था कि उनके खिलाफ उनकी संपत्तियों को लेकर कार्रवाई की गई है जो काले धन के कानून आने के पहले लागू ही नहीं होता है। लूथरा ने कहा था कि इनकम टैक्स विभाग की ओर से जारी कारण बताओ नोटिस में टैक्स असेसमेंट किया जाना था। लेकिन असेसमेंट वर्ष 2019-20 के लिए कोई टैक्स असेसमेंट नहीं किया गया।


25 हजार होमगार्ड की सेवाएं समाप्त

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पुलिस विभाग में तैनात 25 हजार होमगार्ड स्वयंसेवकों की सेवाएं तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी गई हैं।कानून व्यवस्था और शांति व्यवस्था कायम करने के लिए पुलिस महकमे के बजट से लगाए गए 25 हजार होमगार्ड की सेवाएं लेने से पुलिस महकमे ने मना कर दिया है। एडीजी पुलिस मुख्यालय बीपी जोगदंड ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है।


वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे 
वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे
इसमें कहा गया है कि कानून व्यवस्था के दृष्टिगत पुलिस विभाग में रिक्तियों के सापेक्ष 25000 होमगार्ड की ड्यूटी लगाई गई थी। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 28 अगस्त को हुई बैठक में इस ड्यूटी को समाप्त करने का निर्णय लिया गया था। इसी क्रम में शुक्रवार को पुलिस मुख्यालय प्रयागराज की ओर से आदेश जारी कर होमगार्ड की तैनाती तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी गई है।


एडीजी पुलिस मुख्यालय ने आदेश में कहा है कि मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 28 अगस्त 2019 को हुई बैठक में होमगार्ड स्वयंसेवकों की तैनाती समाप्त करने का फैसला किया गया था।


आदेश में कहा गया है कि होमगार्ड स्वयंसेवकों द्वारा दी जाने वाली सेवाओं के लिए मानदेय के रूप में भुगतान की जाने वाली धनराशि का आकलन माहवार कराकर एक हफ्ते के अंदर पुलिस मुख्यालय को अवगत कराएं। आकलन चार्ट पर जनपद प्रभारी का नाम व पदनाम सहित स्वयं का हस्ताक्षर होना चाहिए।


इस आदेश से पुलिस थानों और ट्रैफिक नियंत्रण में होमगार्ड स्वयंसेवकों की तैनाती समाप्त हो गई है। माना जा रहा है कि होमगार्ड स्वयंसेवकों का दैनिक भत्ता 500 रुपये से बढ़ाकर 672 रुपये करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यह छंटनी की जा रही है, क्योंकि सरकार बजट बढ़ाने को तैयार नहीं है। प्रदेश में लगभग 90 हजार होमगार्ड के स्वयंसेवक हैं। पुलिस विभाग के इस फैसले से 25 हजार होमगार्ड स्वयंसेवक कम हो जाएंगे।


पेट्रोल डीजल की कीमत में राहत

नई दिल्‍ली। ऑयल मार्केटिंग कंपनियों (ओएमसी) ने त्‍योहारी सीजन में ग्राहकों को थोड़ी राहत तीन दिन बाद फिर मंगलवार को दी। ओएसमी ने पेट्रोल और डीजल की प्रति लीटर कीमत में 5 पैसे की कटौती की है। तेल कंपनियां अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल (क्रूड ऑयल) की कीमतों के आधार पर ही घरेलू बाजार में पेट्रोल-डीजल की कीमत तय करती हैं।


इंडियन ऑयल की वेबसाइट के मुताबिक राजधानी दिल्‍ली में पेट्रोल 73.27 रुपये और डीजल 66.41 रुपये प्रति लीटर में उपलब्ध है। मुंबई में पेट्रोल की 78.88 रुपये प्रति लीटर और डीजल 69.61 रुपये प्रति लीटर हो गया है। कोलकाता में पेट्रोल 75.92 रुपये और डीजल 68.77 रुपये प्रति लीटर उपलब्‍ध है। चेन्नई में पेट्रोल की कीमत गिरावट के बाद 76.09 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत 70.15 रुपये प्रति लीटर हो गई है।


भावनाओं को वश में रखे: मेष

राशिफल


मेष-दूर से बुरी सूचना प्राप्त हो सकती है। किसी व्यक्ति से विवाद संभव है। स्वाभिमान को चोट पहुंच सकती है। पुराना रोग उभर सकता है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। भावनाओं को वश में रखें। मन की बात किसी को न बताएं। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा।


वृष-शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से मनोनुकूल लाभ होगा। मेहनत का फल मिलेगा। कार्य पूर्ण होंगे। प्रसन्नता तथा उत्साह से काम कर पाएंगे। मित्रों तथा संबंधियों की सहायता करने से मान-सम्मान मिलेगा। नौकरी में सहयोगी सहायता करेंगे। व्यापार ठीक चलेगा।


मिथुन-भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। व्यय होगा। आत्मसम्मान बना रहेगा। उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। कोई बड़ा काम करने का मन बनेगा। दुष्ट व्यक्तियों से सावधान रहें। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। व्यस्तता रहेगी। थकान हो सकती है। व्यापार ठीक चलेगा।


कर्क-यात्रा लाभदायक रहेगी। भेंट उपहार की प्राप्ति हो सकती है। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। समय की अनुकूलता का लाभ लें। प्रमाद न करें। निवेश शुभ फल देगा। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।


सिंह-नए संबंध बनाने से पहले विचार कर लें। अपरि‍चितों पर अधिक भरोसा ठीक नहीं। फालतू खर्च पर नियंत्रण रखें। आर्थिक तंगी रहेगी। नौकरी में अधिकारी की अपेक्षाएं बढ़ेंगी। मन में दुविधा रहेगी। आय में निश्चितता रहेगी। कारोबार अच्‍छा चलेगा।


कन्या-डूबी हुई रकम प्राप्ति होने के योग हैं। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। आय बढ़ेगी। व्यापार- व्यवसाय से संतुष्टि रहेगी। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड से लाभ होगा। किसी समस्या का अंत होगा। प्रसन्नता व उत्साह में वृद्धि होगी। भाग्य का साथ रहेगा।


तुला-कार्यकारी नए अनुबंध हो सकते हैं। योजना फलीभूत होगी। कार्यस्थल पर सुधार या परिवर्तन हो सकता है। मित्रों तथा संबंधियों की सहायता करने का अवसर प्राप्त होगा। मान-सम्मान मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। काम में मन लगेगा।


वृश्चिक-कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। पूजा-पाठ में मन लगेगा। सत्संग का लाभ प्राप्त होगा। कोर्ट व कचहरी के कार्यों में गति आएगी। चिंता में कमी रहेगी। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल लाभ देगा। पारिवारिक सहयोग प्राप्त होगा।


धनु-चोट व दुर्घटना आदि से शारीरिक व आर्थिक हानि की आशंका है। लापरवाही न करें। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। हताशा का अनुभव होगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। आय में निश्चितता रहेगी। कारोबार ठीक चलेगा। नौकरी में जिम्मेदारी बढ़ सकती है।


मकर-जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। घर में प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। कारोबार मनोनुकूल लाभ देगा। नौकरी में उच्चाधिकारी की प्रसन्नता प्राप्त होगी। बाहरी वातावरण सुखद रहेगा। निवेश शुभ फल देगा। भाग्य का साथ रहेगा। सभी कार्यों में सफलता प्राप्त होगी।


कुंभ-भूमि व भवन संबंधी क्रय-विक्रय की योजना बनेगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। परीक्षा व प्रतियोगिता आदि में सफलता प्राप्त होगी। आय में वृद्धि होगी। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। शारीरिक कष्ट की आशंका प्रबल है।


मीन-शैक्षणिक व शोध इत्यादि के कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। नौकरी में कोई नया काम कर पाएंगे। मान-सम्मान मिलेगा। अधिकारी वर्ग प्रसन्न रहेगा। किसी लंबी यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। प्रसन्नता रहेगी।


प्रोटीन से भरपूर मूंगफली

मूँगफली वस्तुतः पोषक तत्त्वों की अप्रतिम खान है। प्रकृति ने भरपूर मात्रा में इसे विभिन्न पोषक तत्त्वों से सजाया-सँवारा है। 100 ग्राम कच्ची मूँगफली में 1 लीटर दूध के बराबर प्रोटीन होता है। मूँगफली में प्रोटीन की मात्रा 25 प्रतिशत से भी अधिक होती है, जब कि मांस, मछली और अंडों में उसका प्रतिशत 10 से अधिक नहीं। 250 ग्राम मूँगफली के मक्खन से 300 ग्राम पनीर, 2 लीटर दूध या 15 अंडों के बराबर ऊर्जा की प्राप्ति आसानी से की जा सकती है। मूँगफली पाचन शक्ति बढ़ाने में भी कारगर है। 250 ग्राम भूनी मूँगफली में जितनी मात्रा में खनिज और विटामिन पाए जाते हैं, वो 250 ग्राम मांस से भी प्राप्त नहीं हो सकता है


मूँगफली में सभी पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। भारत में इसे 'गरीबों का काजू' के नाम से भी जाना जाता है।भारत में सिकी हुई मूँगफली खाना काफी प्रचलित है, इसे 'टाइम पास' के नाम से भी जानते हैं।जो लोग टाइम पास के नाम पर मूँगफली का सेवन करते हैं, उनमें से अधिकतर इसके गुणों के बारे में नहीं जानते और अनजाने में ही कई पौष्टिक तत्व ग्रहण कर लेते हैं, जो उनके शरीर के लिए काफी फायदेमंद रहते हैं।मूँगफली में प्रोटीन, चिकनाई और शर्करा पाई जाती है। एक अंडे के मूल्य के बराबर मूँगफलियों में जितनी प्रोटीन व ऊष्मा होती है, उतनी दूध व अंडे से संयुक्त रूप में भी नहीं होती।इसकी प्रोटीन दूध से मिलती-जुलती है, चिकनाई घी से मिलती है। मूँगफली के खाने से दूध, बादाम और घी की पूर्ति हो जाती है।मूँगफली शरीर में गर्मी पैदा करती है, इसलिए सर्दी के मौसम में ज्यादा लाभदायक है। यह खाँसी में उपयोगी है व मेदे और फेफड़े को बल देती है।भोजन के बाद यदि 50 या 100 ग्राम मूँगफली प्रतिदिन खाई जाए तो सेहत बनती है, भोजन पचता है, शरीर में खून की कमी पूरी होती है और मोटापा बढ़ता है। इसे भोजन के साथ सब्जी, खीर, खिचड़ी आदि में डालकर नित्य खाना चाहिए। मूँगफली में तेल का अंश होने से यह वायु की बीमारियों को भी नष्ट करती है। मुट्ठीभर भुनी मूँगफलियाँ निश्चय ही पोषक तत्वों की दृष्टि से लाभकारी हैं। मूँगफली में प्रोटीन, केलोरिज और विटामिन के, इ, तथा बी. होते हैं, ये अच्छा पोषण प्रदान करते हैं।


आंवला सर्वोत्कृष्ट फल

आँवला एक फल देने वाला वृक्ष है। यह करीब २० फीट से २५ फुट तक लंबा झारीय पौधा होता है। यह एशिया के अलावा यूरोप और अफ्रीका में भी पाया जाता है। हिमालयी क्षेत्र और प्राद्वीपीय भारत में आंवला के पौधे बहुतायत मिलते हैं। इसके फूल घंटे की तरह होते हैं। इसके फल सामान्यरूप से छोटे होते हैं, लेकिन प्रसंस्कृत पौधे में थोड़े बड़े फल लगते हैं। इसके फल हरे, चिकने और गुदेदार होते हैं। स्वाद में इनके फल कसाय होते हैं।


संस्कृत में इसे अमृता, अमृतफल, आमलकी, पंचरसा इत्यादि, अंग्रेजी में 'एँब्लिक माइरीबालन' या इण्डियन गूजबेरी (Indian gooseberry) तथा लैटिन में 'फ़िलैंथस एँबेलिका' (Phyllanthus emblica) कहते हैं। यह वृक्ष समस्त भारत में जंगलों तथा बाग-बगीचों में होता है। इसकी ऊँचाई 2000 से 25000 फुट तक, छाल राख के रंग की, पत्ते इमली के पत्तों जैसे, किंतु कुछ बड़े तथा फूल पीले रंग के छोटे-छोटे होते हैं। फूलों के स्थान पर गोल, चमकते हुए, पकने पर लाल रंग के, फल लगते हैं, जो आँवला नाम से ही जाने जाते हैं। वाराणसी का आँवला सब से अच्छा माना जाता है। यह वृक्ष कार्तिक में फलता है।


आयुर्वेद के अनुसार हरीतकी (हड़) और आँवला दो सर्वोत्कृष्ट औषधियाँ हैं। इन दोनों में आँवले का महत्व अधिक है। चरक के मत से शारीरिक अवनति को रोकनेवाले अवस्थास्थापक द्रव्यों में आँवला सबसे प्रधान है। प्राचीन ग्रंथकारों ने इसको शिवा (कल्याणकारी), वयस्था (अवस्था को बनाए रखनेवाला) तथा धात्री (माता के समान रक्षा करनेवाला) कहा है।


पुष्पक पौधा यूडीकॉट

युडिकॉट​ (Eudicot) सपुष्पक पौधों का एक समूह है जिनके बीजों के दो हिस्से (बीजपत्र) होते हैं, जिसके विपरीत मोनोकॉट (Monocot) पौधों के बीजों में एक ही बीजपत्र होता है। फूलधारी (सपुष्पक) पौधों की यही दो मुख्य श्रेणियाँ हैं। इन्हें पहले द्विबीजपत्री (Dicotyledon या Dicot) बुलाया जाता था लेकिन वह एक मोनोफेलटिक (एक ही पूर्वज जाति से फैला) समूह नहीं है जबकि युडिकॉट​ में वही द्विबीजपत्री शामिल किये जाते हैं जो एक मोनोफेलटिक गुट की जातियाँ हैं। युडिकॉट​ समूह में आने वाले सभी के फूलों के पराग की यह भी विशेषता है कि उसके कणों में अक्ष के साथ चलने वाली तीन नालियाँ (कटी हुई धारियाँ) होती हैं - यदि पराग के कण के ध्रुव से देखा जाए तो उसके तीन हिस्से दीखते हैं। अनुवांशिकी (जेनेटिक) अनुसंधान से पता चला है कि इन पौधों में और भी बहुत से सांझे गुण होते हैं।


विश्व का उड़ने वाला विशाल पक्षी

सारस विश्व का सबसे विशाल उड़ने वाला पक्षी है। इस पक्षी को क्रौंच के नाम से भी जानते हैं। पूरे विश्व में भारतवर्ष में इस पक्षी की सबसे अधिक संख्या पाई जाती है। सबसे बड़ा पक्षी होने के अतिरिक्त इस पक्षी की कुछ अन्य विशेषताएं इसे विशेष महत्व देती हैं। उत्तर प्रदेश के इस राजकीय पक्षी को मुख्यतः गंगा के मैदानी भागों और भारत के उत्तरी और उत्तर पूर्वी और इसी प्रकार के समान जलवायु वाले अन्य भागों में देखा जा सकता है। भारत में पाये जाने वाला सारस पक्षी यहां के स्थाई प्रवासी होते हैं और एक ही भौगोलिक क्षेत्र में रहना पसंद करते हैं।
सारस पक्षी का अपना विशिष्ट सांस्कृतिक महत्व भी है। विश्व के प्रथम ग्रंथ रामायण की प्रथम कविता का श्रेय सारस पक्षी को जाता है। रामायण का आरंभ एक प्रणयरत सारस-युगल के वर्णन से होता है। प्रातःकाल की बेला में महर्षि वाल्मीकि इसके द्रष्टा हैं तभी एक आखेटक द्वारा इस जोड़े में से एक की हत्या कर दी जाती है। जोड़े का दूसरा पक्षी इसके वियोग में प्राण दे देता है। ऋषि उस आखेटक को श्राप देते हैं।पूरे विश्व में इसकी कुल आठ जातियां पाई जाती हैं। इनमें से चार भारत में पाई जाती हैं। पांचवी साइबेरियन क्रेन भारत में से सन् २००२ में ही विलुप्त हो गई। भारत में सारस पक्षियों की कुल संख्या लगभग ८००० से १०००० तक है। इनका वितरण भारत के उत्तरी, उत्तर-पूर्वी, उत्तर-पश्चिमी एवं पश्चिमी मैदानो में और नेपाल के कुछ तराई इलाको में है। विशेषतः गंगीय प्रदेशों के मैदानी भाग इनके प्रिय आवासीय क्षेत्र होते हैं। भारत में पाए जाने वाले सारस प्रवासी नहीं होते हैं और मुख्यतः स्थाई रूप से एक ही भौगोलिक क्षेत्र में निवास करते हैं। इनके मुख्य निवास स्थान दलदली भूमि, बाढ़ वाले स्थान, तालाब, झील, परती जमीन और मुख्यतः धान के खेत इत्यादि हैं। ये मुख्यतः २ से ५ तक की संख्या में रहते हैं। अपने घोसले छिछले पानी के आस-पास में जहां हरे-भरे पौधों (मुख्यतः झाड़ियां और घास) की बहुतायत होती है वहीं बनाना पसंद करते हैं। ये मुख्यतः शाकाहारी होते हैं और कंदो, बीजों और अनाज के दानों को ग्रहण करते हैं। कभी कभी ये कुछ छोटे अकशेरुकी जीवों को भी खाते हैं।


महर्षि वशिष्ठ का राष्ट्रवाद उपदेश

गतांक से...
 वह वेद के मर्म को जानने वाले विवेकी पुरुषों से विचार-विनिमय करता है और विचार-विनिमय करता हुआ, अपने राष्ट्र को उन्नत बनाने में लगा रहता है। हे राम, तुम्हारे पूर्वजों में भी इसी प्रकार रहा है। महाराजा दिलीप ने संतान उत्पत्ति के लिए एक महान तप किया। उन्होंने रेणु के पीछे 12 वर्ष का जीवन उपार्जन किया और वह अपने में महानता का गान गाने लगे। तपस्या के पूर्ण होने पर देवताओं की उद्गीथ वाली आमोध वाणी का वहां उपयोग होता रहता है। उसे श्रवण करता हुआ मानव अपने में मानवता की आभा में रत हो जाता है। मेरे पुत्रों, देखो विचार है आता रहता है आज केवल यह कि राष्ट्रवाद किसे कहते हैं? यह विचार आ रहा है। मेरे प्यारे जब उन्होंने महर्षि वशिष्ठ से इस प्रकार का विश्लेषण किया। तो राम ने वशिष्ठ मुनि महाराज से कहा कि महाराज यह राष्ट्रवाद क्या है? उन्होंने कहा राष्ट्रवाद वह होता है जब प्रजा के एक कर्तव्य वाद की धारणा बलवती हो जाती है। तो राजा एक चुनौती लिए होता है वह राजा वशिष्ठ कहलाता है। जो समय से प्रजा को अपना उपदेश देना प्रारंभ कर देता है। वह राष्ट्रवाद क्या है। यह विचार प्रसंग है। देखो महात्मा वशिष्ठ मुनि महाराज ने कहा कि राष्ट्रवाद वह कहलाता है जो राजा राष्ट्रधर्म, जो धर्म और मानवता को लेकर गमन करता है और अपने राष्ट्र का पालन करता है। संसार में वह राष्ट्र कहलाता है। जिस राजा के राष्ट्र में प्राण चला जाए, धर्म ही तो राष्ट्र का प्राण कहलाता है। मेरे प्यारे जैसे मानव के शरीर से जब धर्म चला जाता है तो यह आत्मा नग्न रह जाती है। जब राष्ट्र से धर्म चला जाता है तो राष्ट्र अपंग बन जाता है। मेरे प्यारे विचार आता है कि धर्म क्या है? जिसके ऊपर मानव कितना बल देता चला आया है। मुनिवरो देखो, वह धर्म कहलाता है जो देवताओं की ध्वनि है अथवा धरोहर है। वही तो ध्वनि बनकर के राष्ट्र को उन्नत बनाती है। राष्ट्रवाद बेटा वही कहलाता है जहां धर्म को, मानवता को उधरवा में गमन कराके इस सागर से पार होने का मानस प्रयास करता है। वही तो राष्ट्रवाद कहलाता है। राष्ट्रतम ब्रह्म:, जो धर्म और मानवता को लेकर गमन करता है और अपने राष्ट्र का पालन करता है। विद्यालय में अध्ययन कराने वाला आचार्य ब्रह्मचारी को अनुशासन में लाता है। अनुशासित होता हुआ अपने ग्रह को भी त्याग देता है। मेरे प्यारे विचार-विनिमय यह हो रहा है कि महात्मा से यह प्रश्न किया गया कि राष्ट्रवाद क्या है। जब उन्हें यह प्रसन्न हुआ कि राष्ट्रवाद क्या है। तो वशिष्ठ बोले हे राम, राष्ट्रवाद उसे कहते हैं जहां प्रत्येक मानव शांति प्रिय ‌हो। जिस राजा के राष्ट्र में अश्वमेघ यज्ञ होते हैं और अश्वमेघ यज्ञ इस प्रकार होते हो। वहां वृति विद्यमान हो और राष्ट्र अपनी आभा मे रत होने वाला हो। मैंने तुम्हें कई काल में वर्णन कराते हुए कहा हे राम, तुम्हारे पूर्वज महाराजा सागर ने जिस समय अश्वमेघ यज्ञ किया तो उससे पूर्व यह जानकारी दी कि मेरा कोई शत्रु तो नहीं है। जब कोई शत्रु नहीं रहेगा तो राजा को यह अधिकार है कि वह राष्ट्र का पालन करें और राष्ट्र को पालन करता हुआ देखो अश्वमेघ यज्ञ को रचने वाला हो। मेरे प्यारे, मुझे स्मरण आता रहता है कि महाराज सगर ने अपनी चौमुखी सेना को कहा कि तुम इस घोड़े के पीछे चले जाओ और जो भी इस घोड़े को अपने आसन पर नियुक्त कर लेता है। उस राजा को विजय करना है। महाराजा सगर ने अपने पुत्र सुखमंजस से कहा हे सुख मंजस मेरा यह अश्व जा रहा है। अश्वमेघ के लिए इसकी सुरक्षा करना है। उन्होंने कहा बहुत प्रियतम राजा का श्रृंगार से सुशोभित है। स्वर्णमयी उसका श्रृंगार बना है। उसके मस्तक पर एक लेखनी बध्द कर दी। यह अश्वमेघ यज्ञ का प्रतीक है और जो भी इसे अपने में धारण करेगा। उसको विजय करना होगा। देखो यह विचार हो रहा था अमृताम ब्राह्मणे: प्रहा सधनम् दृश्वता: ऐसा मुझे स्मरण आता रहता है कि वेद के मंत्रों को जानने के लिए तत्पर रहता है। उसको जानता हुआ अपने में कृति करता रहता है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


हिंदी दैनिक


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


October 16, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-73 (साल-01)
2. बुधवार,16 अक्टूबर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन,कृष्णपक्ष,तिथि- तीज,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:18,सूर्यास्त 06:00
5. न्‍यूनतम तापमान -21 डी.सै.,अधिकतम-31+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


एससी के प्रस्ताव को वापस लेने का अनुरोध किया

अकांशु उपाध्याय                 नई दिल्ली।  कलकत्ता हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश एन वी रमन से सुप्रीम कोर्ट ब...