गुरुवार, 7 नवंबर 2019

मंडलायुक्त ने जिला प्रशासन को दिए निर्देश

अयोध्या को लेकर आने वाले सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को दृष्टिगत रखते हुए मण्डलायुक्त अनीता मेश्राम व आई0जी0 आलोक सिंह ने जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों के साथ की बैठक, अधिकारियों को दिये आवश्यक दिशा निर्देश।


 
गौतमबुद्धनगर! अयोध्या के संबंध में आने वाले सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के उपरांत जनपद में शांति व्यवस्था एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से मण्डलायुक्त मेरठ अनीता सी मेश्राम व आईजी आलोक सिंह आज कलैैक्ट्रेट सभागार में बैठक करते हुये कहा कि सर्वोच्च न्यायालय भारत की सर्वोच्च संस्था है। अतः उसके द्वारा जो निर्णय दिया जाएगा उसका सभी को अंतर्मन के साथ सम्मान करना चाहिए। उन्होंने निर्देश देते हुये कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय आने के उपरांत यदि किसी भी असामाजिक तत्व के द्वारा किसी भी माध्यम से सोशल मीडिया या अन्य किसी भी व्यवस्था के तहत जनपद का आपसी भाईचारा एवं सद्भाव बिगाड़ने का प्रयास किया जाएगा तो उसके लिए जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन सख्ती के साथ तत्काल प्रभाव से कार्यवाही सुनिश्चित करें।


उन्होंने बैठक करते हुये जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों को यह भी निर्देश दिये कि जनपद मे संवेदनशील स्थानों, धार्मिक स्थलों व गउशालाओ आदि की सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ा दिया जायें और समस्त उप जिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारी पुलिस के द्वारा आपसी सांमजस्य स्थापित करते हुये कानून व्यवस्था व शांति व्यवस्था को बनायें रखने की कार्यवाही सुनिश्चित की जायें, ताकि अयोध्या के संबंध में आने वाले सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के उपरांत जनपद में शांति व्यवस्था एवं कानून व्यवस्था मानको अनुरूप बनी रहेें।


इस अवसर पर जिलाधिकारी बी0एन0सिंह व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वैभव कृष्ण ने मण्डलायुक्त व आई0जी0 को आश्वस्त करते हुये कहा कि इस महत्वपूर्ण मुद्दे को लेकर सोशल मीडिया पर कड़ी नजर बनाकर रखी जा रही है और इस क्रम में एक व्यक्ति को जेल भी भेजने की कार्रवाई जनपद में सुनिश्चित की गई है। यदि किसी के भी द्वारा फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप या अन्य सोशल मीडिया के द्वारा जनपद का आपसी सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास किया जाएगा तो उसे तत्काल गंभीरता से लेकर जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन कार्यवाही सुनिश्चित करेगा तथा सभी संभ्रांत नागरिक व संगठनो के साथ पीस कमेटी की बैठक का आयोजन भी किया जा रहा है।
इस महत्वपूर्ण बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रशासन दिवाकर सिंह, एडीएम एल ए बलराम सिंह, एस0पी0आर0ए0 रणविजय सिंह, एस0पी0 सिटी विनीत जायसवाल, पुलिस अधीक्षक यातायात ए0के0 झा, नगर मजिस्ट्रेट शैलेंद्र कुमार सिंह, उप जिलाधिकारी गण व क्षेत्राधिकारी पुलिस तथा पुलिस व प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण द्वारा भाग लिया गया। जिला सूचना अधिकारी गौतम बुद्ध नगर।


भारत को सौंपा तो आत्महत्या कर लूंगा: मोदी

लंदन! पंजाब नेशनल बैंक (PNB) से जुड़े 13,500 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में भारत में वांछित भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की जमानत याचिका एक बार फिर यूके (यूनाइटेड किंगडम) की अदालत ने खारिज कर दी है! जमानत न मिलने पर नीरव ने कोर्ट में आपा खो दिया और धमकी दी कि अगर उसे भारत को प्रत्यर्पित किया गया, तो वह आत्महत्या कर लेगा! इस दौरान उसने बताया कि उसे जेल में दो बार पीटा भी गया!


48 वर्षीय कारोबारी नीरव को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में चीफ मजिस्ट्रेट एम्मा अर्बुथनॉट के सामने पेश किया गया! उसके वकील हुगो कीथ ने कहा कि नीरव को वेंड्सवर्थ जेल में दो बार पीटा गया! उन्होंने कहा कि नीरव की एक बार अप्रैल में और दूसरी बार बीते मंगलवार को पिटाई हुई! दावा किया गया कि जेल के जिम्मेदार अधिकारियों ने इस मामले में कोई कदम नहीं उठाया! नीरव मोदी ने पांचवीं बार जमानत के लिए आवेदन किया था और सुनवाई के दौरान उसने अदालत को गुमराह करने की भी कोशिश की! हालांकि, इन सबके बावजूद कोर्ट ने उसे जमानत देने से इनकार कर दिया! नीरव का दावा है कि वह बेचैनी और अवसाद से पीड़ित है! नीरव मोदी ने अपनी निरंतर हिरासत के खिलाफ लंदन की एक अदालत में जमानत याचिका दायर करते हुए घर में ही हिरासत में रखने की अपील की! बता दें कि नीरव को 19 मार्च को होलबोर्न से गिरफ्तार किया गया था! पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने आरोप लगाया था कि नीरव मोदी और उसके चाचा मेहुल चोकसी ने कुछ बैंक कर्मचारियों की संलिप्तता के साथ 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है! इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय ED) और केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) द्वारा इस मामले की जांच की जा रही है! नीरव मोदी पर भगोड़े आर्थिक अपराधी अधिनियम (एफईओ) के तहत भी आरोप लगे हैं. ईडी ने चोकसी के खिलाफ मुंबई में धन शोधन निवारण अधिनियम अदालत में आरोपपत्र दायर किया है!


महाराष्ट्र की सियासत में 'गडकरी' का प्रवेश

मुंबई! महाराष्‍ट्र में अगले 24 घंटे के भीतर सरकार बनाने की समयसीमा के मद्देनजर सियासी दलों की उठापटक तेज हो गई है! सरकते वक्‍त के बीच महाराष्‍ट्र की सियासत में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की एंट्री हो गई है! वह आज नागपुर में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मिल रहे हैं! इस बीच सूत्रों के हवाले से खबर आई है कि सीएम देवेंद्र फडणवीस ने अपने करीबी मंत्रियों के साथ बैठक की है! फडणवीस इस वक्‍त पार्टी में अलग-थलग पड़ गए हैं! सूत्रों के मुताबिक आरएसएस भी बीजेपी पर शिवसेना को किसी तरह मनाने का दबाव डाल रहा है! सूत्रों के मुताबिक गडकरी की एंट्री से फडणवीस की कुर्सी जा सकती है!


क्या गडकरी सर्वसम्मत सीएम उम्मीदवार होंगे?
बीजेपी और शिवसेना के बीच जारी रस्‍साकशी को देखते हुए राजनीतिक अनुमान लगाए जा रहे हैं कि फडणवीस की जगह केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ले सकते हैं. उसके बाद शिवसेना की गठबंधन में वापसी की जल्द से जल्द घोषणा हो सकती है! फडणवीस व गडकरी दोनों नागपुर से हैं और कैमरे के सामने दोनों में सौहार्दपूर्ण संबंध होने के बावजूद दोनों के बीच मतभेद जाहिर हैं!


सूत्रों का कहना है कि राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) ने स्पष्ट रूप से गडकरी को राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में स्थापित करने का रोडमैप तैयार किया है! इससे शिवसेना को रोटेशन के आधार पर मुख्यमंत्री पद की मांग को कमजोर करने का अवसर मिलेगा! नितिन गडकरी के संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ अच्छे संबंध हैं! भागवत ने उन्हें राष्ट्रीय राजनीति में लाने का कार्य किया और कई दिग्गज नेताओं के विरोध के बावजूद उन्हें भाजपा अध्यक्ष बनाया! इसके अलावा 2014 के दौरान जब गडकरी ने चुनाव में उतरने की घोषणा की तो भागवत ने हस्तक्षेप कर उन्हें वापस हटने और अपने को राष्ट्रीय राजनीति तक सीमित करने को मनाया!


शिवसेना देवेंद्र फडणवीस के कड़े रुख को लेकर नाराज है! आरएसएस के शीर्ष नेताओं ने अपने सूत्रों को शिवसेना को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) से बातचीत को लेकर पाला नहीं बदलने की सलाह देने के लिए भेजा! माना जाता है कि संघ ने भी शिवसेना को आश्वासन दिया है कि सभी 'मुद्दों' का सौहार्दपूर्ण हल किया जाएगा! यह खासा महत्वपूर्ण है कि शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने भागवत को पत्र लिखकर गडकरी को परिदृश्य में लाने को कहा! तिवारी ने कहा कि सिर्फ गडकरी ही गतिरोध को 'दो घंटे' में खत्म कर सकते हैं!


नितिन गडकरी को संघ का चहेता माना जाता है. वे नागपुर से हैं, जहां आरएसएस का मुख्यालय है! इससे पहले मंगलवार को संघ प्रमुख द्वारा फडणवीस को बुलाया गया था और उन्होंने 90 मिनट बातचीत की, लेकिन नतीजा सिफर रहा! आरएसएस के वरिष्ठ पदाधिकारी भी इस बैठक को लेकर मौन रहे! फडणवीस ने सोमवार को दिल्ली में नितिन गडकरी और अमित शाह से मुलाकात की थी! राकांपा द्वारा किसी को भी समर्थन देने से इनकार करने के बाद आरएसएस ने भाजपा और शिवसेना के बीच बातचीत के लिए राजनीतिक प्रबंधन को सक्रिय कर दिया है! राज्य विधानसभा के कार्यकाल के इस हफ्ते समाप्त होने के मद्देनजर संघ ने सरकार बनाने की प्रक्रिया को तेज कर दिया है!


ऑक्सीजन न मिलने से दो नवजात की मौत

अयोध्या! महिला अस्पताल की न्यू बोर्न बेबी केयर यूनिट में मंगलवार रात दो नवजात बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण हो गयी। सूचना मिलते ही अस्पताल प्रशासन में खलबली मच गई। आनन-फानन में बेबी केयर यूनिट में ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाया गया। कर्मचारियों की गलती को छिपाने के लिए अब अस्पताल प्रशासन बहाने बना रहा है। बेबी केयर यूनिट मे लापरवाही से हो रही मौत की यह कोई पहली घटना नही है। यहां पांच दिन के अन्तराल में तीन नवजात शिशुओं की मौत हो चुकी है।
अयोध्या के जिला महिला चिकित्सालय में नवजात शिशुओं को पैदा होने के समय होने वाली विभिन्न बीमारियों से होने वाली मौत से बचाने के लिए बेबी केयर यूनिट की स्थापना की गई है। यहां एक नवम्बर से अब तक 22 नवजात बच्चों को भर्ती किया गया है। इनमें एक नवजात की मौत एक नवम्बर को व दो नवजात शिशु की मौत पांच नवम्बर की देर रात हो गयी। एक बच्चा ठीक होने के बाद घर भेजा गया। जबकि तीन बच्चों को उनके परिवारीजन अस्पताल से निकाल कर प्राइवेट अस्पताल लेकर चले गए।


यूनीसेफ के नर्स प्रशिक्षक ने किया खुलासा
यूनिट के कर्मचारी इन मौत की घटनाओं को चुपचाप हजम कर जाते किन्तु बुधवार को लखनऊ से यूनीसेफ की ओर से आए नर्स प्रशिक्षक डॉ. रुद्र दास ने जब बेबी केयर यूनिट जाकर वहां का हाल जाना तो उन्होंने इस पर काफी असंतोष व्यक्त किया। उन्होंने इसकी जानकारी सीएमएस डॉ. एसके शुक्ल को दी। सीएमएस ने जानकारी होने के बाद स्टाफ को जमकर फटकार लगायी।


बच्चों की मौतों पर सीएमएस ने पेश की सफाई
पांच दिन के बीच तीन नवजात शिशुओं की मौत के बारे में जानकारी करने पर सीएमएस डॉ. एसके शुक्ल ने पहले तो साफ इनकार किया। उनको जब यह जानकारी दी गई कि यूनीसेफ से आए डॉ. रुद्र दास ने नवजात शिशुओं की मौत के बारे में जानकारी दी है, तब उन्होंने बताया कि बच्चे काफी सीरियस थे। उनको लखनऊ के लिए रेफर किया गया था। परिवार वाले लखनऊ नहीं ले गए तो बच्चों की यहीं पर मौत हो गयी। उन्होंने इस बात से इनकार किया कि आक्सीजन की कमी के कारण नवजात बच्चों की मौत हुई है। जबकि जानकारी होने के बाद तत्काल दो आक्सीजन सिलिण्डर बेबी केयर यूनिट में पहुंचाये गए थे।


सीरियस बच्चों को लखनऊ के लिए किया गया था रेफर : सीएमओ
सीएमओ डॉ. सीबी द्विवेदी से जब आक्सीजन न मिलने से हुई नवजात शिशुओं की मौत के बारे में जानकारी की गई तो उन्होंने भी सीएमएस के पक्ष को ही सामने रखा। उन्होंने कहा कि सीएमएस से जानकारी करने पर पता चला है कि बच्चे सीरियस थे। उनको लखनऊ के लिए रेफर किया गया था। आक्सीजन से होने वाली मौत से सीएमओ ने भी इनकार किया ।


रिपोर्ट अनूप श्रीवास्तव


मध्यम वर्ग के लिए कैबिनेट का बड़ा फैसला

4.50 लाख मध्यम वर्गीय परिवारों के लिए कैबिनेट ने लिया बड़ा फैसला: पीएम मोदी


धर्मशाला! हिमाचल प्रदेश में आयोजित वैश्विक सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि धर्मशाला में वैश्विक सम्मेलन, ये कल्पना नहीं सच्चाई है, अभूतपूर्व है, अद्भुत है। ये हिमाचल प्रदेश का एक स्टेटमेंट है, पूरे देश को, पूरी दुनिया को कि हम भी अब कमर कस चुके हैं। पीएम ने कहा कि पहले इस प्रकार के वैश्विक सम्मेलन देश के कुछ ही राज्यों में हुआ करते थे। यहां अनेक ऐसे साथी मौजूद हैं जिन्होंने पहले की स्थितियां देखी हैं। लेकिन अब स्थितियां बदल रही हैं और इसकी एक गवाह यहां हिमाचल में हो रही ये समिट भी है।


प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि निवेशक राज्यों को देखकर निवेश करते हैं कि किस राज्य में कितनी छूट मिल रही है। आज भारत में विकास की गाड़ी नई सोच, नई अप्रोच के साथ 4 वील्स पर चल रही है। एक वील सोसायटी का, जो एस्पायरिंग है। एक वील सरकार का, जो नए भारत के लिए एनकरेजिंग है। एक वील इंडस्ट्री का, जो डेयरिंग है और एक वील ज्ञान का, जो शेयरिंग है।


प्रधानमंत्री ने कहा कि बेवजह के नियम कायदे, सरकार का बहुत ज्यादा दखल कहीं न कहीं उद्योगों के बढ़ने की रफ्तार को रोकता है। मुझे खुशी है कि इसी सोच के साथ हिमाचल प्रदेश सरकार भी काम कर रही है। अब राज्य सरकारें समझने लगी हैं कि रियायतों की स्पर्धा न राज्य का भला करती हैं और न ही उद्योगों को आकर्षित कर पाती हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कल लगभग 4.50 लाख मध्यम वर्गीय परिवारों के घर बनाने के सपने को पूरा करने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले से लगभग 4.50 लाख घर खरीदारों को फायदा होगा।


रोहतांग दर्रे पर बर्फबारी,मनाली-लेह मार्ग बंद

शिमला। हिमाचल प्रदेश की ऊंची चोटियां बर्फबारी से लकदक हो गई हैं। जनजातीय जिलों लाहौल-स्पीति, किन्नौर के अलावा कुल्लू और चंबा के अधिक उंचाई वाले इलाकों में बुधवार रात से बर्फ गिर रही है। लाहौल घाटी के प्रवेश द्वार रोहतांग दर्रे पर करीब एक फुट ताजा हिमपात होने से सामरिक महत्व के मनाली-लेह मार्ग पर वाहनों की आवाजाही बंद हो गई है।


रोहतांग दर्रा कुल्लू- लाहौल-स्पीति जिलों को जोड़ता है। बर्फबारी के कारण एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार रोहतांग दर्रा बंद हुआ है। लाहौल-स्पीति के मुख्यालय केलंग में एक सेंटीमीटर ताजा हिमपात हुआ है। कुल्लू के सोलंग नाला में भी बर्फ गिर रही है। जलोढ़ी दर्रा अवरुद्ध हो गया है।


राजधानी शिमला और आसपास के क्षेत्रों में सुबह से सर्द हवाएं चल रही हैं और रुक-रुक कर बारिश हो रही है। धर्मशाला सहित निचले इलाकों में बादल घिरे हुए हैं। धर्मशाला में आज (गुरुवार) से शुरू होने वाले दो दिवसीय ग्लोबल इन्वेस्टर मीट पर भी बारिश का साया है। इन्वेस्टर मीट में देश-विदेश के नामी उद्योगपति हिस्सा ले रहे हैं।


बारिश और बर्फबारी से तापमान में 3 से 5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट आई है। प्रदेश में ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। केलांग में तापमान माइनस में है। केलांग में बुधवार को न्यूनतम तापमान -0.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। कल्पा में न्यूनतम तापमान 2.5, कुफरी में 2.6, मनाली में 3.6, शिमला में 5.7, डल्हौजी में 6.6, सियोबाग व सोलन में 9, जुब्बड़हट्ट में 9.2, चंबा में 10, भुंतर में 10.9, सुंदरनगर में 12.3, धर्मशाला में 12.6, कांगड़ा में 13.2, मंडी में 13.9, उना में 14.8 और नाहन में 15.9 डिग्री सेल्सियस रिकाॅर्ड हुआ।


मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों के दौरान बारिश और बर्फबारी जारी रहने की संभावना जताई है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता से मौसम में बदलाव आया है। पर्वतीय क्षेत्रों में 8 नवम्बर तक बर्फबारी, मैदानी और मध्यवर्ती इलाकों में गरज के साथ बारिश का अनुमान है। 9 नवम्बर को मौसम साफ रहने की उम्मीद है।


जमीनी रंजिश में 'भाई-बहन' की बर्बर हत्या

राजू सिंह


कौशाम्बी। पश्चिम शरीरा थाना अंतर्गत बख्शी का पूरा गांव में घर मे अकेले भाई-बहन की गोली मारकर हत्या कर दी गई। हत्यारो की जानकारी नही लगी है। इस दोहरे हत्याकांड से पूरे गांव में सनसनी मची हुई है। लोगो में हत्या को लेकर तरह-तरह की चर्चा की जा रही है। लेकिन पुलिस अभी किसी नतीजे में नही पहुंच सकी है। फिलहाल पुलिस से हत्यारो को जल्द गिरफ्तार कर लेने की संभावना जताई। बता दें वारदात पश्चिम शरीरा थाना क्षेत्र के बक्सी का पुरावा का गाँव का है । दोनों भाई बहन घर में अकेले थे और माँ बड़ी बेटी सुनीला के घर गई हुई थी। सुबह जब 7 बजे  लौटकर आकर देखा तो बेटी की खून से लथपथ लाश पड़ी थी। जब बेटा की तलाश की गई तो बेटा का शव भूसा में  दबा पाया गया। घर के अंदर का सामान बिखरा मिला है। और गांव में चर्चा का विषय है  हुई है। मृतक भाई बहन का नाम बउवा पुत्र गप्पू  सरोज उम्र 13 वर्ष शीला देवी पुत्री गप्पू सरोज उम्र 17 वर्ष मौके का मुयना करने पहुचे है  डीईजी जोन कवींद्र प्रताप सिंह एसपी कौशाम्बी अभिनंदन ने मौके पर सुरक्षा को लेकर कई थानों की फ़ोर्स मौजूद रही। आक्रोशित परिजनों ने शव को पीएम के लिए प्रसासन को नही सौप रहे थे। वहीं मृतक की मां ने इस हत्या के पीछे जमीनी रंजिश बताई है। जिसके साथ ही गांव के पांच लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर भी दी है। ग्रामीणों की मांग थी कि खोजी कुत्ता को लाकर जांच कराई जाए और मुल्जिमो को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाए। एसपी अभिनन्द और सदर विधायक लालबहादुर ने आक्रोशित परिजनों को समझया और लाश को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेजा।


कांग्रेस ने पर्चे बांट बताई सरकार की विफलता

पर्चा बाँट कर कांग्रेस ने बतायी भाजपा सरकार की विफलता


कौशाम्बी! कांग्रेस के पूर्ब जिलाध्यक्ष तलत अजीम के नेतृत्व में आज चायल तहसील क्षेत्र के कस्बा एवं गांव की आमजनता ब्यापारियों के बीच कांग्रेस नेताओं ने पर्चा बाँट कर भाजपा सरकार की बिफलताओ को उजागर कर आमजनता ब्यापारियों को भाजपा सरकार से सावधान रहने की अपील की है! कांग्रेस नेताओं ने कहा कि भाजपा की केंद्र और प्रदेश सरकार आम जनता के साथ धोखा कर रही है !कांग्रेस नेताओं ने कहा कि भाजपा सरकार जनता से जो वायदा कर सत्ता में आई है! उसे पूरा करने के बजाए जनता को गुमराह कर रही है कांग्रेस नेताओं द्वारा बाँटे जा रहे पर्चे में भाजपा सरकार की बिफलताओ का पूरा चिट्ठा मौजूद था! इस मौके पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष अरुण बिद्यार्थी, फैजल अली, हजला उस्मानी कामरान, अजीम सगीर अहमद, धर्म राज ओझा ,सुधाकर त्रिपाठी ,सुखलाल यादव, नुरुल जमा मोहम्मद खालिद ,मोहम्मद अरमान सहित तमाम लोग मौजूद रहे!


सुशील केशरवानी


अधिशासी-अधिकारी, रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

जयपुर । भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो महानिदेशक श्री आलोक त्रिपाठी के निर्देशन में ब्यूरो की अजमेर एवं नागौर टीमों द्वारा बुधवार को कार्यवाही करते हुए तत्कालीन कनिष्ठ अभियंता नगर पालिका सरवाड़ अजमेर हाल कनिष्ठ अभियंता नगर पालिका निंबाहेड़ा हरि सिंह को 55 हजार रुपए की रिश्वत लेते एवं नगर पालिका सरवाड़ में कार्यरत अधिशाषी अभियंता दीपेंद्र सिंह एवं केशियर देवेंद्र सिंह को 10-10 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया।


भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो महानिदेशक श्री आलोक त्रिपाठी ने बताया कि परिवादी ने एसीबी कार्यालय अजमेर में शिकायत देकर बताया कि उसकी फार्म द्वारा नगर पालिका सरवाड़ में की गये कार्यों के बकाया बिलों के भुगतान करने लिए अधिशाषी अभियंता,कनिष्ठ अभियंता व चेयरमैन उसे काफी समय से चक्कर कटा रहे एवं रिश्वत की राशि की मांग कर रहे हैं। परिवादी की शिकायत पर सितंबर माह में एसीबी द्वारा प्रथम सत्यापन तत्कालीन कनिष्ठ अभियंता सरवाड़ हरि सिंह का करवाया गया जिन्होंने पुरानी तारीख में बिल बनाते हुए 60 हजार रुपए की रिश्वत की राशि की मांग की मामला 55 हजार रुपए में तय हुआ एवं 55 हजार रुपए के सेल्फ का चेक ले लिया। तत्पश्चात विभिन्न स्तरों से सत्यापन करवाते हुए बिल भुगतान की कार्यवाही की गई जिसमें अधिशाषी अभियंता दीपेंद्र सिंह द्वारा 50 हजार रुपए की मांग की गई एवं 40 हजार रुपए पूर्व में प्राप्त कर लिए। नगर पालिका सरवाड़ चेयरमैन विजय कुमार ने 2 प्रतिशत के हिसाब से 36 हजार रुपए की रिश्वत की राशि मांग की एवं पूर्व में ही दलाल राजेश शर्मा के मार्फत प्राप्त कर लिए।
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अजमेर श्री चंद्र प्रकाश शर्मा के नेतृत्व में बुधवार को दो टीमों का गठन कर ट्रैप कार्रवाई का आयोजन किया गया। प्रथम टीम अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो नागौर श्री रमेश मौर्य के नेतृत्व में हाल नगर पालिका निंबाहेड़ा में कार्यरत कनिष्ठ अभियंता हरि सिंह को 55 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया एवं उनसे अमानत रखें  हुए सेल्फ के चेक भी बरामद किए। दूसरी टीम उप अधीक्षक अजमेर श्री महिपाल सिंह के नेतृत्व में नगर पालिका सरवाड़ में कार्यवाही करते हुए केशियर देवेंद्र सिंह को स्वयं के लिए 10 हजार रुपए एवं अधिशाषी अभियंता श्री दीपेंद्र सिंह के कहे अनुसार उनके लिए 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए। केशियर देवेंद्र सिंह एवं अधिशाषी अभियंता दीपेंद्र सिंह को गिरफ्तार किया। एवं उनके निवास स्थान पर एसीबी की सर्च जारी है साथ ही शेष व्यक्तियों की भूमिका की भी जांच की जा रही है!


सभी राज्यों को अलर्ट पर रहने का अनुमोदन

अयोध्या! रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला 17 नवंबर से पहले आने की संभावना है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने फैसले से पहले देश के सभी राज्यों को अलर्ट पर रहने को कहा है। केंद्र ने अर्धसैनिक बलों के 4,000 जवान भी उत्तर प्रदेश के लिए रवाना कर दिए हैं। वहीं अयोध्या में प्रशासन ने 10 दिसंबर तक धारा-144 लागू कर दी है। पड़ोसी जिले अंबेडकर नगर में 8 अस्थायी जेल बनाई गई हैं। ये सभी जेल, कॉलेजों में बनाई गई हैं। इधर, विहिप ने राम मंदिर के लिए पत्थर तराशने का काम रोक दिया।


अयोध्या जिले को चार जोन- रेड, येलो, ग्रीन और ब्लू में बांटा गया है। इनमें 48 सेक्टर बनाए गए हैं। विवादित परिसर, रेड जोन में स्थित है। पुलिस के मुताबिक, सुरक्षा योजना इस तरह बनाई जा रही है कि एक आदेश पर पूरी अयोध्या को सील किया जा सके। प्रशासन ने फैसले का समय नजदीक आने पर, अर्धसैनिक बलों की अतिरिक्त 100 कंपनियां मांगी हैं। इससे पहले दीपोत्सव पर यहां सुरक्षाबलों की 47 कंपनियां पहुंची थीं, जो अभी भी तैनात है।


अयोध्या में विहिप के प्रवक्ता शरद शर्मा ने बताया कि राम मंदिर के लिए पत्थर तराशने का काम रोक दिया गया है। 1990 के बाद यह पहला मौका है, जब पत्थर तराशना बंद किया गया है। अब तक 1.25 लाख घनफीट पत्थर तराशा जा चुका है। अभी 1.75 लाख घनफीट पत्थर को तराशना बाकी है। पत्थर तराशने में लगे कारीगर घर लौट गए हैं। विहिप प्रवक्ता ने कहा- फैसले के बाद आगे का निर्णय लिया जाएगा। इसके साथ ही विहिप ने अपने सभी कार्यक्रम भी निरस्त कर दिए।


अयोध्या पुलिस ने सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार के दुष्प्रचार या किसी भी सम्प्रदाय के खिलाफ भड़काऊ कंटेंट के प्रसार पर नजर रखने के लिए जिले के 1600 स्थानों पर 16 हजार वॉलंटियर तैनात किए हैं। गड़बड़ी रोकने के लिए 3000 लोगों को चिह्नित करके उनकी निगरानी की जा रही है।


सूचना के बाद भी नुकसान करता 'हाथी दल'

मनोज यादव


कोरबा। कटघोरा वन मंडल क्षेत्र में इन दिनों 53 हाथियों का दल दस्तक दे चुका है। जिसकी जानकारी कटघोरा वन अमले को जब से लगी है, तब से वन मंडल क्षेत्र के गावों में मुनादी कराकर लोगों को सतर्क किया जा रहा है।
कोरबा जिले के कटघोरा वन मंडल क्षेत्र में इस समय 53 हाथियों के दल की दस्तक देने की सूचना मिलने पर कटघोरा वन विभाग पूरी तरह मुस्तैद नजर आ रहा है। वन कर्मचारी जहां रात्रि गश्त कर वनांचल क्षेत्रों के ग्रामीणों को सतर्क करने में लगे हैं, वही खेत खलिहान में लगे फसलों को भी सुरक्षित रखने का प्रयास इनके द्वारा किया जा रहा है । यहां यह बताना लाजमी होगा कि खलिहान में लगे फसल को देखकर हाथी आकर्षित होकर खेतों में धावा बोल देते हैं। जिससे फसल पूरी तरह बर्बाद हो जाती है,और ग्रामीणों के सामने जीवकोपार्जन की गंभीर समस्या उत्पन्न हो जाती है, इसके बचाव के लिए वन अमला कटघोरा पूरी तरह तैयार नजर आ रहा है। जब हमने इस संबंध में कटघोरा वन मंडल डीएफओ डी डी संत से बात की तो उन्होंने बताया कि वन अमला पूरी तरह हाथियों से निपटने तैयार है । जब हमने हाथियों को यहां से खदेड़ने की बात की तो डीएफओ का जवाब था कि उसके लिए तैयारी की जा रही है। अब देखने वाली बात होगी कि वन अमला का दावा सिर्फ दावा ही रहता है, यह तो समय के गर्त में छिपा है ?


प्रदूषण को बढ़ावे में आविप की बड़ी हिस्सेदारी

अकाशुं उपाध्याय
गाजियाबाद। मंडोला विहार योजना से प्रभावित किसानों का पिछले तीन वर्षों से चल रहा धरना जारी रहा । गौरतलब है कि गत दिनों बढ़ते प्रदूषण व आवास विकास परिषद द्वारा अधिग्रहित जमीन को अस्थाई डंपिंग ग्राउंड बनाने व इसमें हजारो टन इलेक्ट्रिक अनुपयोगी प्लेटो का भंडारण कराकर आग के हवाले करने का किसानों ने विरोध किया था। परिषद के भृष्ट अधिकारियों ने चन्द पैसो के लालच में जिला गाजियाबाद व लोनी तहसील को प्रदूषण फैलाने के लिए बदनाम कराने में अहम भूमिका निभाई । 
किसानों के प्रदर्शन के बाद प्रशासनिक अधिकारियों का ध्यान इस ज्वलन्त समस्या की ओर आकर्षित हुआ तो इस कचरे का यहाँ पर आना व आग के हवाले करना ही नही रुका बल्कि खुद जिलाधिकारी ने इन इलेक्ट्रिक प्लेटो के अवैध कारोबार में लिप्त कारोबारियों के दर्जनों गोदाम ध्वस्त किये व जुर्माना भी लगाया ।
इस समस्या को लेकर दिनांक 29/10/2019 को किसानों द्वारा आवास विकास परिषद के कार्यालय के गेट पर e कचरा डालकर  प्रदर्शन किया गया था तो SDM लोनी प्रशांत तिवारी भी मौके पर पहुँचे ओर किसानों को दो दिन में योजना में पड़ा सारा कचरा उठवाए जाने व दोषी अधिकारियों पर कानूनी कार्यवाही करने का अस्वासन दिया तो किसानों ने अपना प्रदर्शन समाप्त कर दिया । लेकिन इस कचरे को योजना में डलवाने पर किसी अधिकारी या कर्मचारी के खिलाप कार्यवाही नही की गई और न ही इस कचरे को उठवाकर योजना से बाहर भेजा गया इस सम्बंध में जब धरनारत किसानों का एक प्रतिनिधि मंडल उपजिलाधिकारी से मिला तो तो कचरा उठाये जाने में किसी भी कारण से विलम्ब होने की स्थिति में कचरे को कार्यालय के समीप इकठ्ठा कराने पर सहमति बनी ओर दोषी अधिकारियों पर कार्यवाही करने की बात भी SDM लोनी ने कही थी । लेकिन प्रदूषण फैलाने व e कचरे का भंडारण कराने के दोषियों के खिलाप कार्यवाही नही किये जाने से किसानों ने नाराजगी प्रकट करते हुए निर्णय लिया कि जैसे ही योजना में जगह जगह पड़ी इलेक्ट्रिक प्लेट परिषद कार्यालय के समीप आ जाएंगी तो धरनारत किसान परिषद कार्यालय के अंदर बैठकर भजन कीर्तन करेंगे और अपनी गिरफ्तारी देंगे परिषद के अधिकारियों ने अपनी जमीन के उचित मुआवजे के मांग को लेकर मंडोला समेत 6 गांव के किसान जो कि गांधीवादी तरीके अपनाकर तीन वर्षों से शांतिपूर्वक सत्याग्रह कर रहे हैं परिषद के अधिकारियों ने गत वर्षों में सैकड़ो सत्याग्रही किसानों पर फर्जी मुकदमे दर्ज कराये हैं लेकिन जिन्होंने चन्द पैसो के लालच में कई ग्रामीणों की जान ले ली व सैकड़ो को अस्पताल में भर्ती करा दिया उनके खिलाप मुकदमा दर्ज नही किया गया है । जब तक दोषी अधिकारियों के खिलाप मुकदमा दर्ज नही हो जाएगा गिरफ्तारी देने का क्रम रोजाना जारी रहेगा।
जिन किसानों पर फर्जी मुकदमे दर्ज कराए गए हैं उनके साथ ही अन्य किसान भी अपनी गिरफ्तारी देंगे । कई अन्य संगठन व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी किसानों के साथ ही गिरफ्तारी देने के लिए किसान सत्याग्रह संयोजक मंडल सदस्यों से सम्पर्क किया है।


आधार में बदलाव का नया नियम लागू

आधार में नाम और जन्मतिथि में बदलाव, ये है नया नियम


नई दिल्ली। आधार कार्ड में अगर जानकारी अपडेट करना चाहते हैं तो यह खबर आपके लिए है। दरअसल, यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) ने अब आधार अपडेट करने को लेकर कुछ नियमों में बदलाव किया है। यूआईडीएआई के मुताबिक, आधार कार्ड में नाम और जन्मतिथि बदलने की सीमा निश्चित कर दी गई है। वहीं, आधार में जानकारी अपडेट करवाने के लिए अब आपको ढेर सारे दस्तावेज जमा कराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यूआईडीएआई ने इसको लेकर नियमों में बदलाव किया है।


यूआईडीएआई के निर्देश के मुताबिक, नाम में पूरे लाइफ टाइम में केवल दो बार बदलाव किया जा सकता है। इसके बाद इसकी छूट नहीं दी जाएगी। लोगों को नाम अपडेट कराने के लिए पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पहचान पत्र और शैक्षणिक संस्थान का लेटर हेड जैसे दस्तावेजों में से किसी एक को जमा कराना होगा। इसके बाद नाम में बदलाव किया जा सकता है। यूआईडीएआई के निर्देश के मुताबिक, जन्मतिथि अपडेशन में केवल एक बार की छूट दी जाएगी। इसके लिए कुछ शर्तें रखी गई हैं। इन शर्तों के तहत, अगर आधार कार्ड में आपकी उम्र में तीन या इससे कम साल का अंतर है तो आप संबंधित दस्तावेज किसी नजदीकी आधार सुविधा केंद्र में जाकर उसमें सुधार करा सकते हैं। जबकि उम्र में अगर तीन साल से अधिक का अंतर है तो आपको क्षेत्रीय आधार केंद्र में दस्तावेज लेकर जाना होगा।


teligram
जन्मतिथि में बदलाव के लिए जन्म प्रमाण पत्र, पैन कार्ड, पासपोर्ट, लेटर हेड पर ग्रुप-ए राजपत्रित अधिकारी द्वारा जारी जन्मतिथि, फोटो पहचान पत्र का प्रमाण पत्र, या पूर्व सैनिक फोटो आईडी लेटर हेड, क्लास 10 या 12वीं का सर्टिफिकेट में से कोई भी एक दस्तावेज आपको लेकर जाना होगा। यूआईडीएआई कहता है कि आधार में जेंडर सुधार की सुविधा एक बार ही मिलेगी।


आधार अपडेट कराने के अन्य नियमों की बात करें तो, अगर आप अपना शहर बदलते हैं या घर (पता) बदलते हैं तो आधार कार्ड को अपडेट कराना आवश्यक होता है। इसके लिए आपको आधार सेवा केंद्र पर जाकर पूरी जानकारी देकर उसे अपडेट कराना होगा। आधार केंद्र पर आपको डेमोग्राफिक बदलाव के लिए 50 रु + जीएसटी चार्ज देना होता है। साथ ही अगर आपको बॉयोमेट्रिक अपडेट कराना हो तो 50 रु + जीएसटी चार्ज देना होगा। इसके अलावा आधार सर्च के लिए (ई-केवाईसी, कलर प्रिंट आउट) 30 रु + जीएसटी चार्ज देने होंगे।


प्राइवेट पार्ट को कुचल कर,जलाने का प्रयास

आकाश दत्त मिश्रा


मुंगेली। 3 नवंबर को अपने दोस्त के साथ घूमने निकले नितेश साहू की अध जली लाश नदी में मिलने के 24 घंटे बीत जाने के बावजूद पुलिस के हाथ अब भी खाली है। नई बात यह निकाल कर आई है कि जगत कापा निवासी नितेश साहू की बर्बर हत्या की गई है और उसके प्राइवेट पार्ट को कुचल कर उसे जलाने की कोशिश भी की गई है। इससे शंका हो रहा है कि मामले में प्रेम संबंध या अवैध संबंध का एंगल हो सकता है। आपको याद दिला दें कि मुंगेली क्षेत्र के जगत कापा में रहने वाला नितेश साहू डांड गांव के अपने दोस्त महात्मा के साथ रविवार 3 नवंबर को घूमने निकला था, जिसके बाद वह घर नहीं लौटा । वहीं बुधवार 6 नवंबर को गांव के ही नदी में नीतीश की डूबी हुई लाश मिली। शुरुआती जांच में पता चला कि नितेश को मारकर जलाने की कोशिश की गई ,खासकर उसके प्राइवेट पार्ट को निशाना बनाया गया, वही मामला पथरिया थाना क्षेत्र होने से अब मुंगेली पुलिस केस फाइल पथरिया थाना भेज रही है, जो जांच आगे बढ़ाएगी। इस मामले में नितेश का दोस्त महात्मा प्रमुख संदेही है जो नितेश के साथ आखिरी वक्त मौजूद था लेकिन उसका दावा है कि वह नितेश को छोड़कर अपने घर लौट आया था। पुलिस सभी पहलुओं पर जांच करेगी तभी इस जघन्य हत्या का पर्दाफाश हो सकेगा।



युवक पर पेट्रोल डालकर आग लगाई

भिण्ड। शहर थाना क्षेत्र के ग्राम पुरानी बस्ती में पुरानी रंजिश को लेकर एक ही परिवार के दो व्यक्तियों में झगड़ा हुआ तो आवेश में आकर दूसरे युवक ने पेट्रोल डालकर उसे आग के हवाले कर दिया, जिससे वह बुरी तरह झुलस गया। परिजन आनन-फानन में उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल लेकर दौड़े, उसकी हालत ज्यादा खराब होने के चलते डॉक्टरों ने उसे तुरंत ग्वालियर रैफर कर दिया है जहां उसका उपचार किया जा रहा है। अस्पताल चौकी पर प्राथमिकी दर्ज कर मामले को शहर कोतवाली भेज दिया।
पुलिस के अनुसार बुधवार दोपहर 12 बजे नीरज शर्मा पुत्र दयाशंकर शर्मा उम्र 27 वर्ष निवासी पुरानी बस्ती को पुरानी रंजिश को लेकर विवाद हुआ तो इसी दौरान परिवार के लोगों ने पेट्रोल डालकर आग लगा दी, जिससे वह बुरी तरह झुलस गया। नीरज को उपचार के लिए परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे तो उसकी हालत गंभीर देखते हुए डॉक्टरों ने तुरंत ग्वालियर रैफर कर दिया।


पूर्व राष्ट्रपति को भाजपा नेता की शुभकामना

गाजियाबाद। भाजपा नेता ईश्वर मावी ने दिल्ली में भारत के पूर्व राष्ट्रपति व भारत रत्न श्री प्रणव मुखर्जी से मुलाकात की और उनके अच्छे स्वास्थ्य के लिए उन्हें फूलों का गुलदस्ता देकर शुभकामना दी। भाजपा नेता ईश्वर मावी बुधवार को दिल्ली में भारत के पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी से मिले और उन्हें लोनी आने का निमंत्रण दिया।


भाजपा नेता ईश्वर मावी ने कहा कि श्री प्रणव मुखर्जी अपने राजनीतिक जीवन में भारत के सबसे बेहतरीन वित्त मंत्री के साथ साथ भारत के यशस्वी राष्ट्रपति भी रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की भाजपा सरकार ने महान व्यक्तित्व के धनी श्री प्रणव मुखर्जी को भारत रत्न देकर देश में ईमानदारी और योग्यता को सम्मान देने का काम किया है जो हमेशा इतिहास में याद किया जाएगा। भाजपा नेता ईश्वर मावी के साथ उनके सुपुत्र सूरज मावी,भांजे अशोक भाटी व दीपक शर्मा ने भी पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी से मुलाकात कर उनका आशीर्वाद लिया।


हनीप्रीत के खिलाफ हाईकोर्ट जाएगी पुलिस

राणा ओबराय
हनीप्रीत के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा हटाने के मामले में हाइकोर्ट जाएगी पुलिस
पंचकूला। पंचकूला हिंसा मामले में हनीप्रीत की मुश्किलें बढ़ सकती है। पंचकूला हिंसा और दंगों के मामले में अब पंचकूला पुलिस की तरफ से हाईकोर्ट की तऱफ से रुख किया गया है। हनीप्रीत से देशद्रोह की धारा हटाने के मामले में अब हाईकोर्ट में रिव्यू पिटिशन डाली जा रही है। इस मामले में पांच से छह सीनियर एडवोकेट की टीम लगी हुई है। जानकारी के मुताबिक पंचकूला कोर्ट ने हनीप्रीत से देशद्रोह की धारा हटा दी थी जिसके बाद कल हनीप्रीत को जमानत मिल गई थी। इस मामले में अब पंचकूला पुलिस की तऱफ से हनीप्रीत की देशद्रोह की धारा हटने के बाद हाईकोर्ट की तऱफ रुख किया है।


कारगिल युद्ध के हीरो बने संस्था के संरक्षक

कारगिल युद्ध के हीरो जीडी बक्शी बने संस्था के सरंक्षक


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद,लोनी। भारतीय सेनिको के लिए समर्पित संगठन सहयोग द हेल्पिंग हैंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष और भाजपा नेता विजेन्द्र त्यागी के नेतृत्व में संस्था की टीम ने कारगिल युद्ध के हीरो रहे रिटायर्ड मेजर जरनल जीडी बक्शी से मिलकर उनको प्रतीक चिन्ह और शॉल देकर सम्मानित किया। विस्तार से देश के वर्तमान हालात पर चर्चा की। जरनल साहब ने सहयोग संस्था के कार्यो की सराहना की। अपना पूर्ण मार्गदर्शन और आश्रीवाद दिया। आगामी कार्यक्रमों के बारे में अपना सुझाव दिया।  इस अवसर पर वरिष्ठ समाजसेवी सुरेश लाला ,विश्व हिंदू परिषद लोनी नगर अध्यक्ष अमित गर्ग ,सहयोग संस्था की दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मीना चौहान आदि उपस्थित रहे।


हरियाणा मंत्रिमंडल का जल्द विस्तार होगा

राणा ओबराय
शीघ्र अति शीघ्र हो सकता है हरियाणा मंत्रिमंडल का विस्तार?
चण्डीगढ़ । निजी सुत्रो के अनुसार शीघ्र अति शीघ्र हरियाणा मन्त्रिमण्डल के विस्तार होने की सम्भावना है! सुत्रो की माने तो इसी सप्ताह हरियाणा मंत्रिमंडल का विस्तार होगा! सुत्रो के अनुसार आधा दर्जन के आसपास हरियाणा में मंत्री बनाये जाने की सम्भावना बनी हुई है! सम्भावित मंत्रियों में चार भाजपा,दो जेजेपी और दो या तीन आजाद विधायकों को मंत्री पद मिल सकता है?


जिला अध्यक्ष ने पुलिस पर लगाए आरोप

सन्दीप मिश्रा
रायबरेली। सपा पूर्व जिलाध्यक्ष आरपी यादव की गिरफ्तारी के बाद समाजवादी पार्टी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें जिलाध्यक्ष राम बहादुर यादव, एडवोकेट ओपी यादव ,पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष मोहम्मद इलियास,पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष विरेंद्र यादव और प्रदेश कमेटी की उपाध्यक्ष शीला सिंह मौजूद थी। प्रेस वार्ता में जिलाध्यक्ष ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए और पुलिस को जिले के सफेद पोश नेताओं की कठपुतली बताया । उनका कहना है कि पुलिस अनावश्यक आरपी यादव को परेशान कर रही।


टीचर को बाहर खींच, डंडों से की पिटाई

प्रिंसिपल के कमरे में छिपे टीचर को खिडकी दरवाजे तोड़कर उपद्रवियों ने बाहर निकाला और फिर बरसाये लाठी डंडे


प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले में मंगलवार को गुरू शिष्य परंपरा अराजकता की भेंट चढ़ गयी। जिले के सोरांव थाना क्षेत्र स्थित आदर्श जनता इंटर कालेज शास़्त्री नगर बलकरनपुर में टीचर से किसी बात पर नाराज छात्र अपने दर्जनों साथियों संग कालेज पहुंचा और कालेज में तोड़फोड़ शुरू कर दी। अपनी जान बचाने के लिये टीचर प्रींसिपल के कमरे में घुस गये और अंदर से दरवाजा व खिड़की बंद कर दी। लेकिन, खून सवार उपद्रवियों ने खिड़की दरवाजे तोड़कर टीचर को बाहर निकाला और उस पर बेरहमी से तब तक लाठी डंडे बरसाते रहे, जब तक कि वह अचेत होकर जमीन पर लुढ़क नहीं गये। इस दौरान स्कूल के दूसरे टीचर व प्रींसिपल किसी तरह छात्रों को कानून हाथ में न लेने और समझाने का प्रयास करते रहे, लेकिन अपनी मनमानी करने तक उपद्रवी वहां जुटे रहे। आनन फानन में स्कूल प्रशासन ने पुलिस को सूचना दी तो मौके पर सोरांव थाने की फोर्स पहुंची। पुलिस ने उपद्रव करने वाले कुछ लोगों को हिरासत में लिया है, जबकि घायल टीचर को इलाज के लिये अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 


क्या है मामला 
पुलिसक के अनुसार कालेज में जांच करने के लिये कुछ लोग आये हुये थे, जो बच्चों का स्वास्थ्य जांच कर रहे थे। इसी दौरान एक स्थानीय छात्र का वजन आदि क्लास में कराया गया और छात्र जब बाहर जाने लगा तो उसे वापस बुलाकर उनका नाम आदि दर्ज किया गया। इसी दौरान स्कूल में तैनात शिक्षक शिव बाबू शुक्ल ने छात्र को बार बार क्लास से बाहर आ जाने पर फटकार लगाई और छात्र से बहस होने लगी। आरोप है कि छात्र दलित बिरदरी का था और टीचर ने उसके साथ सख्ती दिखाई और पिटाई कर दी, जिससे नाराज छात्र अपने गांव चला गया और अपने दर्जनों साथियों संग स्कूल पहुंच गया और टीचर को सबक सिखाने के लिये बवाल करने लगा। बवाल की भनक लगते ही टीचर, प्रिंसिपल के केबिन में घुस गये तो उपद्रवियों ने खिडकी दरवाजे तोडने शुरू कर दिये और जमकर बवाल के बाद जब खिडकी दरवाजा तोड़कर टीचर को बाहर निकाला गया तो उन पर लाठी डंडे की बरसात कर दी गयी। 


मच गया हडकंप 
उपद्रव कर रहे लोगों को देखकर दूसरे टीचर भी सकते में आ गये और बीच बचाव के लिये लोगों को कानून हाथ में न लेने की अपील करते रहे। लेकिन, उपद्रवियों ने लाठी डंडा बरसाना तब ही बंद किया, जब वह अपनी मंशा में कामयाब हो गये। काफी देर तक चले इस पूरे घटनाक्रम के बाद कालेज में हडकंप मचा रहा। दहशत के बीच स्कूल में तैनात शिक्षक सकते रहे और पुलिस पहुंचने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली। पुलिस ने बवाल कर रहे कुछ युवकों को हिरासत में लिया है। मामले की जानकारी देते हुये थानाध्यक्ष सोरांव ने बताया कि तहरीर घायल टीचर की ओर से दी जा रही है, उसी आधार पर मुकदमा दर्ज किया जायेगा। टीचर को इलाज के लिये अस्पताल ले जाया गया है। घटना क्यों हुई, अभी उसका कारण स्पष्ट नहीं है, मुकदमा लिखे जाने के बाद जानकारी दी जायेगी।


बृजेश केसरवानी


तीन बच्चों की मां आशिक के साथ फरार

तीन किशोर बच्चों की माँ हुई आशिक के साथ फरार


पीड़ित दिव्यांग पति लगा रहा है पुलिस अधिकारियों और नेताओं के दर पर चक्कर


कौशाम्बी। मसूरियादीन पुत्र स्व आनंदीलाल निवासी वार्ड नं 2 अम्बेडकर नगर ,नगर पंचायत अझुवा ने नवागत पुलिस अधीक्षक अभिनंदन को शिकायती पत्र देकर बताया कि पीड़ित प्रार्थी मसूरियादीन और उसकी पत्नी  माया सैनी क्षेत्र के सब्जी मंडी के पास दवाखाना खोलकर पीड़ित लोगों का इलाज करते थे। जहां पर आरोपी धर्मेंद्र सोनकर उर्फ धर्मा पुत्र अशर्फीलाल निवासी घड़ियाली पुर मजरा सौंराई थाना कड़ा धाम का आना जाना हुआ। कुछ समय बाद 6अक्टूबर 2019 को धर्मा माया को बहला फुसला कर कहीं भगा ले गया। जो कान का बाला, घर के जेवरात ,बैंक की चेकबुक सहित लाखों का माल लेकर अपने आशिक धंर्मेन्द्र के साथ फरार हो गयी। जिसकी शिकायत प्रार्थी मसूरियादीन ने कोतवाली सैनी में दिया तब कोतवाली पुलिस ने गुमसुदगी दर्ज कर अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर ली।


     पीड़ित मसूरियादीन ने बताया कि मेरी पत्नी माया देवी ज्यादा पढ़ी लिखी नही थी। आज से 17 वर्ष पूर्व जब मेरे साथ माया का विवाह हुआ तभी से अपना और अपने परिवार का पेट काटकर मैंने उसे हाईस्कूल और इंटर करवाया, फिर कशिया ककोढा में स्थित कशिया पब्लिक स्कूल से एमएनएम का कोर्स करवाने के लिए अपना खेत भी बेंच दिया। जब लगा अब प्रार्थी की जिंदगी पटरी पर आ जायेगी तभी धर्मा और माया ने मेरे बच्चों का सहारा छीन लिया, और जब प्रार्थी अपने ससुराल मिर्जा की चक जाकर बताता है तो माया का भाई और बाप कहते है कि हमसे कोई सरोकार नही है !मेरी बड़ी बेटी 14वर्ष की है,उससे छोटा पुत्र 12 वर्ष और छोटी पुत्री 10 वर्ष की है।
जब इस संबंध में चौकी इंचार्ज पंधारी सरोज से बात की गई तो उन्होंने बताया जांच हो रही उपरोक्त आरोपी के मोबाइल सर्विसलांग में लगाया गया लेकिन दोनों के नंबर बंद जा रहे हैं, ज्योंहि दोनों का सुराग लगेगा! उचित एवं कठोर कार्रवाई की जाएगी


सन्तलाल मौर्य


डेंगू का मरीज मिलने से क्षेत्र में हडकंप

सिराथू तहसील क्षेत्र के भदवा गाँव मे डेंगू बीमारी का मरीज मिलने से गाँव में मचा हड़कम्प



कौशाम्बी। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के कार्यो में शिथिलता पाए जाने के कारण कौशाम्बी जिले में एक के बाद एक गाँव डेंगू नामक गम्भीर बीमारी की चपेट में आता दिख रहा है जिससे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से लेकर ग्राम प्रधानों की पोल खुल रही है कि गाँव की साफ-सफाई पर कितना ध्यान दिया जाता है यदि गाँव की साफ-सफाई सही तरीके से होती है तो डेंगू जैसी गम्भीर बीमारी कौशाम्बी जिले के एक के बाद एक गाँव में आखिर क्यों दस्तक दे रही है।सिराथू तहसील के दर्जनों गाँव में सिर्फ गाँव की साफ-सफाई सरकारी कागजो तक सीमित रह गई और साफ-सफाई व फॉगिंग ना होने की वजह से नालियों में बरसात का गंदा पानी जमा होने के कारण दूषित जल से डेंगू मच्छर उत्पन्न होकर गम्भीर बीमारी की समस्या बनकर उभर रहे हैं जिससे सिराथू तहसील के भदवा ग्राम मे डेंगू के प्रकोप से मानिक चंद्र नामक व्यक्ति के अचानक बीमार पड़ जाने पर आनन-फानन में परिजनों ने उनको एक निजी हॉस्पिटल में इलाज के लिए एडमिट कराया गया जांच के  दौरान डॉक्टरो ने डेंगू नामक गम्भीर बीमारी की पुष्टि की गई जिससे परिजनों के साथ-साथ गाँव के लोगो को डेंगू नामक गम्भीर बीमारी का डर सताने लगा है ग्रामीण लोगो का आरोप है कि गाँव में साफ-सफाई ना होने की वजह से जल जमाव की स्थिति बनी हुई है और डेंगू मच्छरों के लार्वा को मारने के लिए फॉगिंग भी नही की गई है।


इसी तरह आज से दो दिन पूर्व चायल तहसील क्षेत्र के सरवा काजी गाँव मे डेंगू नामक गम्भीर बीमारी से पीड़ित नीरज पुत्र शिवचरन व रूबी कुशवाहा पुत्री बच्चालाल कुशवाहा की मौत हो चुकी है और कई लोग डेंगू बुखार से पीड़ित लोगों का इलाज चल रहा है।एक के बाद एक कौशाम्बी जिले का ग्रामीण क्षेत्र डेंगू नामक गम्भीर बीमारी का शिकार हो रहा है।


राजकुमार


7 आईपीएस अधिकारी जबरन रिटायर

लखनऊ ! उत्तर प्रदेश सरकार ने 7 डिप्टी एसपी रैंक के 7 आईपीएस पुलिस अधिकारियों को जबरन रिटायर कर दिया है । उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से जारी किए गए आदेश के मुताबिक सेवाओं में दक्षता सुनिश्चित करने के लिए प्रांतीय पुलिस सेवा संवर्ग के 7 ऐसे पुलिस उपाधीक्षकों या सहायक सेनानायकों जिनकी उम्र 31 मार्च 2019 को 50 वर्ष पार कर गई है, उन्हें अनिवार्य रूप से रिटायर करने का फैसला किया गया है । स्क्रीनिंग कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर यह फैसला किया गया है । कमेटी ने भ्रष्टाचार और अक्षमता के आरोपों को आधार पर उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने की संस्तुति की थी ।


  गृह विभाग के आदेश के अनुसार 15वीं वाहिनी पीएसी आगरा के सहायक सेनानायक अरुण कुमार, फैजाबाद में तैनात पुलिस उपाधीक्षक विनोद कुमार गुप्ता, आगरा में तैनात पुलिस उपाधीक्षक नरेन्द्र सिंह राना, 33वीं वाहिनी पीएसी झांसी के सहायक सेनानायक रतन कुमार यादव, 27वीं वाहिनी पीएसी सीतापुर के सहायक सेनानायक तेजवीर सिंह यादव, मुरादाबाद के मंडलाधिकारी संतोष कुमार सिंह और 30वीं वाहिनी पीएसी गोण्डा के सहायक सेनानायक तनवीर अहमद खां को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई है । इन अफसरों के विरुद्ध लघु दंड, वृहद दंड, अर्थदंड, परिनिन्दा, सत्यनिष्ठा अप्रमाणित किए जाने, वेतनवृद्धि रोके जाने और वेतनमान निम्न स्तर पर किए जाने जैसी कार्रवाइयां पूर्व में ही हो चुकी हैं ।



बता दें कि पिछले 2 वर्षों में योगी सरकार विभिन्न विभागों के 200 से ज्यादा अफसरों और कर्मचारियों को जबरन रिटायर कर चुकी है  |  इन दो वर्षों में योगी सरकार ने 400 से ज्यादा अफसरों, कर्मचारियों को निलंबन और डिमोशन जैसे दंड भी दिए हैं |  इतना ही नहीं, इस कार्रवाई के अलावा 150 से ज्यादा अधिकारी अब भी सरकार के रडार पर हैं |  गृह विभाग में सबसे ज्यादा 51 लोगों को जबरन रिटायर किए गए थे | बिजली विभाग इंजीनियरों और कर्मचारियों के ईपीएफ में करीब 2267.90 करोड़ के घोटाले के बाद विपक्ष के निशाने पर आई उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बड़ा कदम उठाया है | मिली जानकारी के मुताबिक, अभी और अधिकारियों पर गाज गिर सकती है |  बताया जा रहा है कि 24 और अधिकारियों की फाइल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास पहुंच चुकी है |  जल्द ही इन अधिकारियों को लेकर कोई फैसला लिया जाएगा |  


नक्शे में कालापानी,नेपाल का पारा हाई

भारत ने नए नक्‍शे में कालापानी को दिखाया अपनी सीमा में, नेपाल का पारा हाई
रिपोर्टर रतन गुप्ता
  
काठमांडू। पिछले दिनों भारत ने देश का नया नक्‍शा जारी किया है और इसे देखने के बाद नेपाल का पारा चढ़ गया है। इस नए नक्‍शे में कालापानी को भी भारत की सीमा में दिखाए जाने पर नेपाल नाराज है। नेपाल सरकार की तरफ से बुधवार को इस स्थिति पर नाराजगी जाहिर करते हुए एक आधिकारिक बयान जारी किया गया है। सरकार की तरफ से कहा गया है कि नेपाल के पश्चिमी इलाके में स्थित कालापानी उसके देश की सीमा में है। भारत ने पिछले शनिवार को नया राजनीतिक मैप जारी किया गया है।
कालापानी हमारा हिस्‍सा
इस नए नक्‍शे में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख केंद्र शासित प्रदेशों को उनकी सीमाओं के साथ दिखाया गया है। वहीं, पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर यानी पीओके को भी जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश के हिस्से के रूप में दिखाया गया है। वहीं, गिलगित-बाल्टिस्तान को लद्दाख के हिस्से के रूप में प्रदर्शित किया गया है। नेपाल सरकार की तरफ से कहा गया है कि उसे मीडिया में आई खबरों के जरिए पता लगा कि भारत ने कालापानी को अपने नए मैप में दिखाया है। नेपाल के विदेश मंत्रालय ने कहा, 'नेपाल सरकार स्पष्ट है कि कालापानी का इलाका उसकी सीमा में आता है।' मंत्रालय के बयान के मुताबिक, 'विदेश सचिव स्तर की संयुक्त बैठक में भारत और नेपाल की सीमा संबंधी मुद्दों को संबंधित विशेषज्ञों की मदद से सुलझाने की जिम्मेदारी दोनों देशों के विदेश सचिवों को दी गई है। दोनों देशों के बीच सीमा संबंधित लंबित सभी मुद्दों को आपसी समझ से सुलझाने की जरूरत है और कोई भी एकतरफा कार्रवाई नेपाल सरकार को अस्वीकार्य है।'


अपनी सीमाओं की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध
नेपाल के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि नेपाल सरकार अपनी अंतरराष्‍ट्रीय सीमा की रक्षा करने को लेकर प्रतिबद्ध है और दोनों मित्र देशों को कूटनीतिक माध्यम से ऐतिहासिक दस्तावेजों एवं सबूतों के आधार पर संबधित विवाद को सुलझाने की जरूरत है।' इस पूरे मसले पर काठमांडू में स्थित भारतीय दूतावास की तरफ से अभी कोई भी टिप्‍पणी नहीं की गई है। गौरतलब है कि स्थानीय मीडिया ने खबर दी कि कालापानी नेपाल के धारचुला जिले का हिस्सा है जबकि भारत के मानचित्र में इसे उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले का हिस्सा दिखाया गया है। विदेश मंत्रालय के अपर सेक्रेटरी से सुरेश अधिकारी से जब इस बाबत संपर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि मंत्रालय इस पूरे मामले की हकीकत जानने की कोशिश कर रहा है। नेपाल सरकार के लैंड डिपार्टमेंट के डायरेक्‍टर कमल घिमिरे ने कहा कि भारत सरकार ने घरेलू प्रयोग के लिए मानचित्र प्रकाशित किए हैं और यह अंतरराष्ट्रीय सीमांकन के लिए नहीं है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सीमा को रेखांकित करने के लिए बड़े पैमाने पर सीमांकन होना चाहिए।


घातक आतंकी हमले में 37 लोगों की मौत

बुर्किना फासो! एक कनाडाई खनन कंपनी के कर्मियों के काफिले पर घात लगाकर किए गए हमले में 37 लोगों की मौत हो गई। यह पश्चिम अफ्रीकी देश में पिछले करीब पांच साल में हुआ सबसे घातक आतंकवादी हमला है। देश के इस्ट क्षेत्र के गवर्नर सैदोउ सानोउ ने बताया कि ''अज्ञात सशस्त्र लोगों'' ने बुधवार सुबह उन पांच बसों पर घात लगाकर हमला कर दिया जिनमें सेमाफो खनन कंपनी के स्थानीय कर्मी, ठेकेदार और आपूर्तिकर्ता सवार थे।
उन्होंने बताया कि इस हमले में कम से कम 37 लोगों की मौत हो गई और 60 अन्य लोग घायल हो गए। खनन कंपनी सेमाफो इंक के मालिक ने बताया कि सेना की सुरक्षा में ले जाई जा रहीं पांच बसों पर उस समय हमला हुआ, जब वे तापोआ प्रांत में बौंगोउ सोने की खान से करीब 40 किलोमीटर दूर थीं।
सुरक्षा सूत्रों ने बताया कि काफिले के पीछे चल रहा सेना का एक वाहन विस्फोटक की चपेट में आ गया। सूत्रों ने गोपनीयता की शर्त पर बताया कि कर्मियों को ले जा रहीं दो बसों पर इसके बाद गोलीबारी की गई। बुर्किना फासो की सरकार ने बताया कि सुरक्षा बलों ने बचाव एवं तलाश अभियान शुरू कर दिया है।


एटीएस के हाथों में अयोध्या की सुरक्षा

लखनऊ। अयोध्या में कार्तिक मेला को लेकर चल रही चहल-पहल के बीच आतंकी खतरे ने सुरक्षातंत्र की नींद उड़ा दी है। नेपाल के रास्ते भारत में संदिग्धों की घुसपैठ का इनपुट मिलने के बाद रामनगरी में निगरानी बढ़ा दी गई है। इनकी नापाक नजर अयोध्या पर होने की आशंका है। आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) अयोध्या पुलिस के सहयोग के लिए पहुंच चुका है। अयोध्या में चिह्नित स्थानों पर पैरामिलिट्री फोर्स के साथ एटीएस कमांडो तैनात कर दिए गए हैं। आतंकी इनपुट की सूचना मिलने के बाद अयोध्या पुलिस के जिम्मेदार एटीएस के उच्चाधिकारियों से लगातार संपर्क में है। एक पुलिस अधिकारी की मानें तो इनपुट है कि आतंकी भारत में प्रवेश करने की फिराक में हैं। हालांकि इनपुट पर पुलिस-प्रशासन के जिम्मेदार खुलकर नहीं बोल रहे हैं, लेकिन सतर्कता बढ़ाया जाना स्वीकार कर रहे हैं।



अयोध्या विवाद का फैसला आने वाला है। इसे लेकर अयोध्या में पहले से ही सरगर्मी है। बड़ी संख्या में फोर्स अयोध्या पहुंच चुकी है और भी फोर्स के आने की संभावना है। मंगलवार से 14कोसी परिक्रमा के साथ कार्तिक मेले का उल्लास भी शुरू हो चुका है। ऐसे में सुरक्षा तंत्र बेहद सतर्क है। राज्य के साथ केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने भी अयोध्या में डेरा डाल रखा है। नेपाल के रास्ते सात आतंकियों के भारत में घुसने का इनपुट मंगलवार को सार्वजनिक हुआ है। रामनगरी पहले से ही आतंकियों के निशाने पर है। पांच जुलाई 2005 को अधिगृहीत परिसर पर आतंकी हमला हो चुका है। इससे पूर्व अयोध्या में कई आतंकी साजिश बेनकाब हो चुकी है। ऐसे में सुरक्षातंत्र ने पड़ताल तेज कर दी है। सीओ अयोध्या का कहना है कि एटीएस कमांडो लगाए गए हैं। उन्हें अलग-अगल तैनाती दी गई है।



आतंक से निपटने की तैयारी


अयोध्या में चप्पे-चप्पे पर निगरानी के लिए ड्रोन कैमरे के साथ सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। जिले में 18 हजार स्थानों पर पुलिस अधिकारियों के फोन नंबर पहले ही लिखवाए जा चुके हैं। पुलिस सोशल मीडिया का सहारा लेकर आम लोगों से सूचना संकलन कर रही है। अयोध्या में 80 से अधिक स्थानों पर मोर्चा लेने के लिए सैंडबैग बनाए गए हैं। आपात परिस्थितियों से निपटने के लिए विशेष स्कीम के तहत पुलिस कार्य कर रही है।


कार्तिक मेला व परिक्रमा में कड़ी होगी सुरक्षा : डीजीपी 


कार्तिक पूर्णिमा मेला व चौदह कोसी/पंचकोसी परिक्रमा पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त के निर्देश दिए गए हैं। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि अयोध्या में चौदह कोसी परिक्रमा, पंचकोसी परिक्रमा व कार्तिक पूर्णिमा मेला का आयोजन 12 नवंबर तक चलेगा। कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर अयोध्या, प्रयागराज, हापुड़, अमरोहा, एटा, बरेली, रायबरेली, कानपुर नगर, वाराणसी व बलिया में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए जाने के साथ ही गड़बड़ी करने वालों पर कड़ी नजर रखी जाए। महिलाओं व बच्चों की सुरक्षा को लेकर खास सतर्कता बरती जाए और सादे कपड़ों में भी पुलिसकर्मियों को ड्यूटी पर लगाया जाए। रेलवे स्टेशन व बस अड्डों पर भी सघन चेकिंग के निर्देश दिए गए हैं।



पुलिस प्रदर्शन से गृह मंत्रालय नाराज

नई दिल्ली। तीस हजारी अदालत में वकीलों के साथ झड़प के बाद मंगलवार को पुराने पुलिस मुख्यालय के बाहर पुलिसकर्मियों के धरने को केंद्र सरकार ने गंभीरता से लिया है। इस मामले में दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों पर गाज गिर सकती है। गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पुलिसकर्मियों को अपनी शिकायत को सही जगह और सही तरीके से उठाना चाहिए था। वहीं गृह मंत्रालय इस मामले में दोषी पुलिसकर्मियों और वकीलों के खिलाफ बिना किसी भेदभाव के कार्रवाई सुनिश्चित करने के पक्ष में है। धरने से नाराज गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पुलिसकर्मियों की मांग जायज हो सकती है, लेकिन इसे उचित तरीके से उठाना जरूरी है। हम एक अनुशासित बल में भीड़ की मानसिकता पनपने नहीं दे सकते हैं।


उन्होंने कहा, 'स्थिति की गंभीरता को समझने और उसे सही समय पर नियंत्रित करने में दिल्ली पुलिस का नेतृत्व बुरी तरह विफल रहा है।' जाहिर है उनका इशारा जल्द ही वरिष्ठ अधिकारियों के फेरबदल किए जाने की ओर था। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पुलिस एक अनिवार्य सेवा के अंतर्गत आता है और इसके तहत किसी स्थिति में उन्हें अपनी सेवा देने की बाध्यता है। कानून-व्यवस्था संभालने के कारण पुलिस की जिम्मेदारी अधिक बढ़ जाती है। दूसरी तरफ अदालत में अपनी जिम्मेदारी निभाने वाले वकीलों में भी भीड़ की मानसिकता उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि तीस हजारी कोर्ट मामले में जिम्मेदार पुलिसकर्मियों और वकीलों दोनों के खिलाफ कार्रवाई जरूरी है। वहीं दिल्ली पुलिस की ओर से तीस हजारी अदालत की घटना की विस्तृत रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेजी गई है।


इसमें शनिवार को पुलिसकर्मियों और वकीलों के बीच झड़प शुरू होने की परिस्थितियों और उसके बाद उठाए गए कदमों के बारे में बताया गया है। लेकिन, इसमें शनिवार के बाद की घटनाओं के बारे में नहीं बताया गया है। जाहिर है कि सोमवार को साकेत कोर्ट के बाहर एक पुलिसकर्मी के साथ मारपीट का भी जिक्र नहीं है। पूरी घटना पर नजर रख रहे वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि फिलहाल इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने न्यायिक जांच का आदेश दिया गया है और उसकी रिपोर्ट का इंतजार करना चाहिए। हाई कोर्ट ने रविवार को छह हफ्ते में न्यायिक जांच पूरी करने का निर्देश दिया था। इस बीच, पुलिसकर्मियों और उनके परिवार के सदस्यों के धरने को देखते हुए गृह मंत्रालय की ओर से दिल्ली के उपराज्यपाल को हस्तक्षेप करने को कहा गया है।


प्रियंका गांधी ने संभाली दिल्ली की कमान

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के लिए आम आदमी पार्टी के साथ भारतीय जनता पार्टी भी जोर-शोर से जुट गई है। दिल्ली में भाजपा-AAP के खिलाफ अब प्रियंका वाड्रा ने अब दिल्ली की कमान संभाल ली है। उन्होंने न केवल पार्टी की मोटी-मोटी रणनीति तय कर ली है बल्कि प्रदेश कांग्रेस को यह प्रस्ताव भी दे दिया है कि जहां उनकी जरूरत हो, उन्हें बुलाया जा सकता है। हरियाणा में पार्टी के प्रदर्शन से उत्साहित प्रियंका वाड्रा का कहना है कि अगर बेहतर ढंग से चुनाव लड़ा गया तो दिल्ली में सरकार कांग्रेस की ही बनेगी। मंगलवार की शाम प्रियंका वाड्रा ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआइसीसी) के वार रूम में दिल्ली के सभी जिला अध्यक्षों और सभी फ्रंटल संगठनों के अध्यक्षों के साथ पहली बार लंबी बैठक की। बैठक में वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, एआइसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल, प्रदेश प्रभारी पीसी चाको, प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा और चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष कीर्ति आजाद भी मौजूद रहे।


पौने दो घंटे चली इस बैठक में प्रियंका ने दिल्ली के सभी नेता और पदाधिकारियों से कहा कि जनसंपर्क और सोशल मीडिया के जरिये पार्टी के कार्यो को घर- घर तक पहुंचाने का अभियान शुरू कीजिए। उन्होंने कहा कि इस वक्त प्रदूषण शहर का सबसे बड़ा मुद्दा है, इसको भी भुनाइए। जनता के बीच जाइए, धरने-प्रदर्शन कीजिए और मास्क भी बांटिए। प्रदेश कांग्रेस को दिसंबर माह के पहले सप्ताह में एक जनसभा या रैली रखने के लिए भी कहा है जिसे पार्टी आलाकमान सोनिया गांधी भी संबोधित करेंगी। इसके माध्यम से दिल्ली में चुनावी बिगुल फूंका जाएगा। प्रियंका ने चाको और सुभाष चोपड़ा की सराहना भी की कि दिल्ली में पार्टी अब अच्छा कर रही है, सभी नेता-कार्यकर्ता संगठित हो रहे हैं।


सोनिया ने बनाया प्रभारी प्रचार प्रदेश कांग्रेस ने कर दिया लाचार


हालांकि दूसरी तरफ प्रदेश कांग्रेस में चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष कीर्ति आजाद इस समय उपेक्षा का शिकार हो रहे हैं। सीधे सोनिया गांधी द्वारा नियुक्त किए जाने के बावजूद करीब दो सप्ताह बाद भी उन्हें प्रदेश कार्यालय में बैठने की जगह नहीं दी गई है। एक दिन उन्हें दूसरी मंजिल पर बैठने को कहा गया तो दूसरे दिन तीसरी और तीसरे दिन चौथी मंजिल पर बैठने को कह दिया गया। सूत्र बताते हैं कि कीर्ति के साथ कामकाज में भी असहयोग किया जा रहा है। न उन्हें पार्टी पदाधिकारियों के नंबर दिए जा रहे हैं और न ही उनकी बैठकें रखी जा रही हैं। मंगलवार को हुई शत्रुघ्न सिन्हा की पत्रकार वार्ता की भी उन्हें कोई सूचना नहीं दी गई। बताया जाता है कि इस सारी स्थिति के विरोध में उन्होंने मंगलवार से प्रदेश आना भी बंद कर दिया है। यही नहीं, उन्होंने अपने साथ किए जा रहे इस व्यवहार को लेकर एआइसीसी में भी बात की है और सोनिया गांधी से भी मुलाकात का समय मांगा है।


पीएफ घोटाला मामले की जांच में गति तेज

लखनऊ। बिजली इंजीनियरों और कर्मचारियों के भविष्य निधि घोटाले (UP PF Scam) में उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन (UPPCL) के तत्कालीन निदेशक वित्त सुधांशु द्विवेदी, सचिव ट्रस्ट पीके गुप्ता और पूर्व एमडी एपी मिश्र की गिरफ्तारी के बाद आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा (EOW) ने जांच की गति तेज कर दी है।ईओडब्ल्यू सुधांशु द्विवेदी और पीके गुप्ता को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ शुरू करेगी। दोनों को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए कोर्ट में अर्जी दी गई है, जिस पर बुधवार को सुनवाई होनी है। घोटाले की तह तक जाने के लिए पूर्व एमडी एपी मिश्रा से दोनों का सामना कराने की भी तैयारी की जा रही है।


पावर कारपोरेशन के पूर्व एमडी एपी मिश्र की गिरफ्तारी के बाद डीजी ईओडब्ल्यू डॉ.आरपी सिंह ने कहा कि पीएनबी हाउसिंग में भी भविष्य निधि की रकम नियम विरुद्ध निवेश की गई थी। उन्होंने दावा किया कि पूर्व एमडी एपी मिश्र के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य मिले हैं। मिश्र पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह के करीबी रहे हैं। सपा शासन के दौरान नियमों में बदलाव कर एपी मिश्र को प्रबंध निदेशक के पद पर सेवा विस्तार दिया जाता रहा। ट्रस्ट के चेयरमैन होने के नाते पावर कारपोरेशन के तत्कालीन अध्यक्ष संजय अग्रवाल (वर्तमान में केंद्र सरकार के कृषि मंत्रालय के सचिव) समेत कई और बड़ों की भूमिका भी जांच के दायरे में है।


आइएएस अफसरों पर हाथ डालने से बच रही सरकार


सरकार घोटालों और भ्रष्टाचार में छोटे अफसरों पर तो कार्रवाई कर रही है, लेकिन आइएएस अफसरों पर हाथ डालने से बच रही है। सीबीआइ की छापेमारी में आइएएस अफसर अभय, विवेक, डीएस उपाध्याय समेत कई अफसरों के घर से पैसे बरामद हुए, जबकि पीएफ घोटाले में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर तैनात आइइएस संजय अग्रवाल का नाम आ रहा है, लेकिन इन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है।


यह है पूरा मामला


बिजली विभाग में जिन अधिकारियों पर इंजीनियरों व कर्मचारियों के सामान्य व अंशदायी भविष्य निधि की रकम को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी थी, उन्होंने इस निधि के 4122.70 करोड़ रुपये को असुरक्षित निजी कंपनी दीवान हाउसिंग फाइनेंस कारपोरेशन लिमिटेड (डीएचएफसीएल) में नियमों का उल्लंघन करके लगा दिया। मार्च 2017 से दिसंबर 2018 तक यूपी स्टेट सेक्टर पावर इंप्लाइज ट्रस्ट और यूपीपीसीएल सीपीएफ (कंट्रीब्यूटरी प्रॉविडेंट फंड) ट्रस्ट की निधि के कुल 4122.70 करोड़ रुपये डीएचएफसीएल में फिक्स्ड डिपॉजिट करा दिए गए। मुंबई हाईकोर्ट द्वारा डीएचएफसीएल के भुगतान करने पर रोक लगाने के बाद बिजली कर्मियों के भविष्य निधि का 2267.90 करोड़ रुपये (मूलधन) फंस गया है। इसमें जीपीएफ का 1445.70 करोड़ व सीपीएफ का 822.20 करोड़ रुपये है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) डीएचएफसीएल मामले की जांच पहले से कर रहा है। अब राज्य सरकार ने पूरे मामले की सीबीआइ जांच कराने का फैसला लिया है। पुलिस पहले ही तत्कालीन वित्त निदेशक सुधांशु द्विवेदी, महाप्रबंधक व सचिव ट्रस्ट प्रवीण कुमार गुप्ता और पूर्व एमडी एपी मिश्रा को गिरफ्तार कर चुकी है।


चीन-पाकिस्तान ने छोड़ी हो जहरीली गैस

नई दिल्ली! दिल्ली-एनसीआर में फैले वायु प्रदूषण पर भाजपा नेता विनीत अग्रवाल शारदा का बयान आया है। उन्होंने कहा है कि इसके पीछे पाकिस्तान और चीन का हाथ हो सकता है।  विनीत अग्रवाल का कहना है कि खेतों में जल रही पराली से वायु प्रदूषण पर कोई फर्क नहीं पड़ता। 
भाजपा नेता विनीत अग्रवाल शारदा ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि ये जो जहरीली हवा आ रही है, जहरीली गैस आई है, हो सकता है कि बगल के मुल्क ने छोड़ दी हो, जो हमसे घबराए हुए हैं। मुझे लगता पाकिस्तान या चीन हमसे घबराए हुए हैं। इस दौरान उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल कह रहे हैं कि पराली जलाने से नुकसान हो रहा है, उद्योगों से नुकसान हो रहा है। किसान और व्यापारी को इतना प्रभावित मत कीजिए, दोनों देश की रीढ़ हैं, इनके टूटने से देश चल नहीं पाएगा।


व्यापारिक निर्णय विवेक से लें: कुंभ

राशिफल 


मेष-बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। कारोबारी कामकाज मनोनुकूल लाभ देंगे। नौकरी में सुख-शांति बनी रहेगी। शारीरिक कष्ट संभव है। अनहोनी की आशंका रहेगी। आराम के साधन व समय पर्याप्त प्राप्त होंगे। सेहत का विशेष ध्यान रखें।


वृष-नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक कार्य करने की प्रेरणा मिलेगी। मान-सम्मान मिलेगा। नए कारोबारी अनुबंध हो सकते हैं। पुराना रोग उभर सकता है। दुष्टजनों से दूरी बनाए रखें। निवेश में विवेक से कार्य करें। नौकरी में नए कार्य कर पाएंगे।


मिथुन-धर्म-कर्म में रुचि रहेगी। किसी धार्मिक आयोजन में भाग लेने का अवसर प्राप्त हो सकता है। कोर्ट-कचहरी के कामों में सफलता प्राप्त होगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नौकरी में कार्यभार बढ़ सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें। थकान रहेगी।


कर्क-वाहन, मशीनरी व अग्नि आदि के प्रयोग में सावधानी रखें। शारीरिक हानि व कष्ट संभव है। पुरानी व्याधि पर व्यय होगा। किसी अपने ही व्यक्ति से अकारण विवाद हो सकता है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। प्रतिद्वंद्विता में वृद्धि होगी।


सिंह-शत्रुता बढ़ सकती है। वाणी में नियंत्रण आवश्यक है। कुंआरों के लिए वैवाहिक प्रस्ताव आ सकता है। शारीरिक समस्या हो सकती है। कोर्ट व कचहरी के कार्यों में अनुकूलता रहेगी। लाभ के अवसर बढ़ेंगे। नौकरी में मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। प्रमाद न करें।


कन्या-परिवार के छोटे सदस्यों की अध्ययन संबंधी चिंता रह सकती है। दुष्टजनों से सावधान रहें। स्थायी संपत्ति में वृद्धि हो सकती है। कोई कारोबारी बड़ा सौदा बड़ा लाभ दे सकता है। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। शेयर मार्केट से मनोनुकूल लाभ होगा। जल्दबाजी न करें।


तुला-शारीरिक कष्ट संभव है। चोट व रोग से बचें। आराम के साधनों पर खर्च होगा। लेखन व पठन-पाठन में समय व्यतीत हो सकता है। सफलता प्राप्त करेंगे। यात्रा मनोरंजक हो सकती है। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। किसी प्रतिभाशाली व्यक्ति का सहयोग मिलेगा।


वृश्चिक-पुराना रोग परेशानी का कारण रह सकता है। किसी व्यक्ति से बेवजह विवाद संभव है। क्लेश रहेगा। मन में दुविधा रहेगी। दूर से दु:खद समाचार प्राप्त हो सकता है। आवश्यक वस्तु गुम हो सकती है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। जल्दबाजी में निर्णय न लें।


धनु-दांपत्य जीवन सुखमय व्यतीत होगा। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। किसी भी विवाद में न पड़ें। प्रयास सफल रहेंगे। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। सामाजिक प्रतिष्‍ठा में वृद्धि होगी। कोई बड़ा कार्य तथा लंबे प्रवास का मन बनेगा। व्यापार-व्यवसाय अनुकूल चलेगा। धनार्जन होगा।


मकर-किसी भी कानूनी फेर में न पड़ें। वाणी पर संयम रखें। मस्तिष्क पीड़ा हो सकती है। दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। घर में अतिथियों का आगमन होगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। निर्णय लेने की क्षमता बढ़ेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। निवेशादि लाभप्रद रहेंगे।


कुंभ-बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा लाभ देगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। शेयर मार्केट आदि में विवेक से निर्णय लें।


मीन-अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। हाथ तंग रहेगा। किसी व्यक्ति से व्यर्थ में विवाद हो सकता है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। भावनाओं को वश में रखें। दिल की बात किसी को नहीं बतलाएं। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। बड़ों की सलाह लें। लाभ होगा। चोट व रोग से बचें।


रोगों की दाई मां 'कब्ज'

कब्ज पाचन तंत्र की उस स्थिति को कहते हैं जिसमें कोई व्यक्ति (या जानवर) का मल बहुत कड़ा हो जाता है तथा मलत्याग में कठिनाई होती है। कब्ज अमाशय की स्वाभाविक परिवर्तन की वह अवस्था है, जिसमें मल निष्कासन की मात्रा कम हो जाती है, मल कड़ा हो जाता है, उसकी आवृति घट जाती है या मल निष्कासन के समय अत्यधिक बल का प्रयोग करना पड़ता है।रेशायुक्त भोजन का अत्यधित सेवन करना, जैसे साबूत अनाज
ताजा फल और सब्जियों का अत्यधिक सेवन करना
पर्याप्त मात्रा में पानी पीना
ज्यादा व्यायाम करना चाहिए जिससे शरीर में गतिविधिया बढ़ती है। कब्ज के समस्या नहीं होती है।
वसा युक्त भोजन का सेवेन कम करे
ज्यादा समस्या आने पर चिकित्सक से सलाह लेना चाहिए।


कुछ विशिष्ट प्रयोग
खाने में ऐसी चीजें ले, जि‍नसे पेट स्‍वयं ही साफ हो जाय।


नमक – छोटी हरड और काल नमक समान मात्रा में मि‍लाकर पीस लें। नि‍त्‍य रात को इसकी दो चाय की चम्‍मच गर्म पानी से लेने से दस्‍त साफ आता हैं।
ईसबगोल – दो चाय चम्‍मच ईसबगोल 6 घण्‍टे पानी में भि‍गोकर इतनी ही मि‍श्री मि‍लाकर जल से लेने से दस्‍त साफ आता हैं। केवल मि‍श्री और ईसबगोल मि‍ला कर बि‍ना भि‍गोये भी ले सकते हैं।
चना – कब्‍ज वालों के लि‍ए चना उपकारी है। इसे भि‍गो कर खाना श्रेष्‍ठ है। यदि‍ भीगा हुआ चना न पचे तो चने उबालकर नमक अदरक मि‍लाकर खाना चाहि‍ए। चेने के आटे की रोटी खाने से कब्‍ज दूर होती है। यह पौष्‍ि‍टक भी है। केवल चने के आटे की रोटी अच्‍छी नहीं लगे तो गेहूं और चने मि‍लाकर रोटी बनाकर खाना भी लाभदायक हैं। एक या दो मुटठी चने रात को भि‍गो दें। प्रात: जीरा और सौंठ पीसकर चनों पर डालकर खायें। घण्‍टे भर बाद चने भि‍गोये गये पानी को भी पी लें। इससे कब्‍ज दूर होगी।
बेल – पका हुआ बेल का गूदा पानी में मसल कर मि‍लाकर शर्बत बनाकर पीना कब्‍ज के लि‍ए बहुत लाभदायक हैं। यह आँतों का सारा मल बाहर नि‍काल देता है।
नीबू – नीम्‍बू का रस गर्म पानी के साथ रात्रि‍ में लेने से दस्‍त खुलकर आता हैं। नीम्‍बू का रस और शक्‍कर प्रत्‍येक 12 ग्राम एक गि‍लास पानी में मि‍लाकर रात को पीने से कुछ ही दि‍नों में पुरानी से पुरानी कब्‍ज दूर हो जाती है।
नारंगी – सुबह नाश्‍ते में नारंगी का रस कई दि‍न तक पीते रहने से मल प्राकृति‍क रूप से आने लगता है। यह पाचन शक्‍ति‍ बढ़ाती हैं।
मेथी – के पत्‍तों की सब्‍जी खाने से कब्‍ज दूर हो जाती है।
गेहूँ के पौधों (गेहूँ के जवारे) का रस लेने से कब्‍ज नहीं रहती है।
धनिया – सोते समय आधा चम्‍मच पि‍सी हुई सौंफ की फंकी गर्म पानी से लेने से कब्‍ज दूर होती है।
दालचीनी – सोंठ, इलायची जरा सी मि‍ला कर खाते रहने से लाभ होता है।
टमाटर कब्‍जी दूर करने के लि‍ए अचूक दवा का काम करता है। अमाश्‍य आँतों में जमा मल पदार्थ नि‍कालने में और अंगों को चेतनता प्रदान करने में बडी मदद करता है। शरीर के अन्‍दरूनी अवयवों को स्‍फूर्ति‍ देता है।


स्वादिष्ट और बहु उपयोगी अंजीर

अंजीर मध्यसागरीय क्षेत्र और दक्षिण पश्चिम एशियाई मूल की एक पर्णपाती झाड़ी या एक छोटे पेड़ है जो पाकिस्तान से यूनान तक पाया जाता है। इसकी लंबाई ३-१० फुट तक हो सकती है। अंजीर विश्व के सबसे पुराने फलों मे से एक है। यह फल रसीला और गूदेदार होता है। इसका रंग हल्का पीला, गहरा सुनहरा या गहरा बैंगनी हो सकता है। अंजीर अपने सौंदर्य एवं स्वाद के लिए प्रसिद्ध अंजीर एक स्वादिष्ट, स्वास्थ्यवर्धक और बहु उपयोगी फल है। यह विश्व के ऐसे पुराने फलों में से एक है, जिसकी जानकारी प्राचीन समय में भी मिस्त्र के फैरोह लोगों को थी। आजकल इसकी पैदावार ईरान, मध्य एशिया और अब भूमध्यसागरीय देशों में भी होने लगी है। प्राचीन यूनान में यह फल व्यापारिक दृष्टि से इतना महत्त्वपूर्ण था और इसके निर्यात पर पाबंदी थी। आज विश्व का सबसे पुराना अंजीर का पेड़ सिसली के एक बगीचे में है।


अंजीर का वृक्ष छोटा तथा पर्णपाती (पतझड़ी) प्रकृति का होता है। तुर्किस्तान तथा उत्तरी भारत के बीच का भूखंड इसका उत्पत्ति स्थान माना जाता है। भूमध्यसागरीय तट वाले देश तथा वहाँ की जलवायु में यह अच्छा फलता-फूलता है। निस्संदेह यह आदिकाल के वृक्षों में से एक है और प्राचीन समय के लोग भी इसे खूब पसंद करते थे। ग्रीसवासियों ने इसे कैरिया (एशिया माइनर का एक प्रदेश) से प्राप्त किया; इसलिए इसकी जाति का नाम कैरिका पड़ा। रोमवासी इस वृक्ष को भविष्य की समृद्धि का चिह्न मानकर इसका आदर करते थे। स्पेन, अल्जीरिया, इटली, तुर्की, पुर्तगाल तथा ग्रीस में इसकी खेती व्यावसायिक स्तर पर की जाती है।


नाशपाती के आकार के इस छोटे से फल की अपनी कोई विशेष तेज़ सुगंध नहीं पर यह रसीला और गूदेदार होता है। रंग में यह हल्का पीला, गहरा सुनहरा या गहरा बैंगनी हो सकता है। छिलके के रंग का स्वाद पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता पर इसका स्वाद इस बात पर निर्भर करता है कि इसे कहाँ उगाया गया है और यह कितना पका है। इसे पूरा का पूरा छिलका बीज और गूदे सहित खाया जा सकता है। घरेलू उपचार में ऐसा माना जाता है कि स्थाई रूप से रहने वाली कब्ज़ अंजीर खाने से दूर हो जाती है। जुकाम, फेफड़े के रोगों में पाँच अंजीर पानी में उबाल कर छानकर यह पानी सुबह-शाम पीना चाहिए। दमा जिसमे कफ (बलगम) निकलता हो उसमें अंजीर खाना लाभकारी है इससे कफ बाहर आ जाता है। कच्चे अंजीरों को कमरे के तापमान पर रख कर पकाया जा सकता है लेकिन उसमें स्वाभाविक स्वाद नहीं आता। घरेलू उपचारों में अंजीर का विभिन्न प्रकार से प्रयोग किया जाता है।


पत्रकारिता का समसामयिक युग

1921 के बाद हिंदी पत्रकारिता का समसामयिक युग आरंभ होता है। इस युग में हम राष्ट्रीय और साहित्यिक चेतना को साथ साथ पल्लवित पाते हैं। इसी समय के लगभग हिंदी का प्रवेश विश्वविद्यालयों में हुआ और कुछ ऐसे कृती संपादक सामने आए जो अंग्रेजी की पत्रकारिता से पूर्णत: परिचित थे और जो हिंदी पत्रों को अंग्रेजी, मराठी और बँगला के पत्रों के समकक्ष लाना चाहते थे। फलत: साहित्यिक पत्रकारिता में एक नए युग का आरंभ हुआ। राष्ट्रीय आंदोलनों ने हिंदी की राष्ट्रभाषा के लिए योग्यता पहली बार घोषित की ओर जैसे-जैसे राष्ट्रीय आंदोलनों का बल बढ़ने लगा, हिंदी के पत्रकार और पत्र अधिक महत्व पाने लगे। 1921 के बाद गांधी जी के नेतृत्व में राष्ट्रीय आंदोलन मध्यवर्ग तक सीमित न रहकर ग्रामीणों और श्रमिकों तक पहुंच गया और उसके इस प्रसार में हिंदी पत्रकारिता ने महत्वपूर्ण योग दिया। सच तो यह है कि हिंदी पत्रकार राष्ट्रीय आंदोलनों की अग्र पंक्ति में थे और उन्होंने विदेशी सत्ता से डटकर मोर्चा लिया। विदेशी सरकार ने अनेक बार नए नए कानून बनाकर समाचारपत्रों की स्वतंत्रता पर कुठाराघात किया परंतु जेल, जुर्माना और अनेकानेक मानसिक और आर्थिक कठिनाइयाँ झेलते हुए भी हिन्दी पत्रकारों ने स्वतंत्र विचार की दीपशिखा जलाए रखी।


1921 के बाद साहित्यक्षेत्र में जो पत्र आए उनमें प्रमुख हैं-


स्वार्थ (1922), माधुरी (1923), मर्यादा, चाँद (1923), मनोरमा (1924), समालोचक (1924), चित्रपट (1925), कल्याण (1926), सुधा (1927), विशालभारत (1928), त्यागभूमि (1928), हंस (1930), गंगा (1930), विश्वमित्र (1933), रूपाभ (1938), साहित्य संदेश (1938), कमला (1939), मधुकर (1940), जीवनसाहित्य (1940), विश्वभारती (1942), संगम (1942), कुमार (1944), नया साहित्य (1945), पारिजात (1945), हिमालय (1946) आदि।
वास्तव में आज हमारे मासिक साहित्य की प्रौढ़ता और विविधता में किसी प्रकार का संदेह नहीं हो सकता। हिंदी की अनेकानेक प्रथम श्रेणी की रचनाएँ मासिकों द्वारा ही पहले प्रकाश में आई और अनेक श्रेष्ठ कवि और साहित्यकार पत्रकारिता से भी संबंधित रहे। आज हमारे मासिक पत्र जीवन और साहित्य के सभी अंगों की पूर्ति करते हैं और अब विशेषज्ञता की ओर भी ध्यान जाने लगा है। साहित्य की प्रवृत्तियों की जैसी विकासमान झलक पत्रों में मिलती है, वैसी पुस्तकों में नहीं मिलती। वहाँ हमें साहित्य का सक्रिय, सप्राण, गतिशील रूप प्राप्त होता है।


डिजिटल मार्केट का बढ़ता दायरा

डिजिटल मार्केटिंग मुख्य रूप से इंटरनेट पर डिजिटल तकनीकों का उपयोग करके उत्पादों या सेवाओं का विपणन है, लेकिन मोबाइल फोन, प्रदर्शन विज्ञापन और किसी अन्य डिजिटल माध्यम को भी शामिल करता है। डिजिटल मार्केटिंग चैनल इंटरनेट पर आधारित सिस्टम हैं जो डिजिटल नेटवर्क द्वारा निर्माता से टर्मिनल उपभोक्ता तक उत्पाद मूल्य को बना सकते हैं, बढ़ा सकते हैं और प्रसारित कर सकते हैं।


1990 और 2000 के दशक के बाद से डिजिटल मार्केटिंग के विकास ने ब्रांड और व्यवसायों के विपणन के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करने के तरीके को बदल दिया है। जैसा कि डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म तेजी से विपणन योजनाओं और रोजमर्रा की जिंदगी में शामिल हो जाता है, और जैसे लोग भौतिक दुकानों पर जाने के बजाय डिजिटल उपकरणों का उपयोग करते हैं, [ platforms ] डिजिटल मार्केटिंग अभियान अधिक प्रचलित और कुशल होते जा रहे हैं।


सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन (SEO), सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM), कंटेंट मार्केटिंग , इन्फ्लूएंसर मार्केटिंग , कंटेंट ऑटोमेशन, कैंपेन मार्केटिंग, डेटा- डिराइविंग मार्केटिंग, ई-कॉमर्स मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग , सोशल मीडिया जैसे डिजिटल मार्केटिंग के तरीके अनुकूलन , ई-मेल प्रत्यक्ष विपणन , प्रदर्शन विज्ञापन , ई-पुस्तकें , और ऑप्टिकल डिस्क और गेम हमारी अग्रिम प्रौद्योगिकी में अधिक आम हो रहे हैं। वास्तव में, डिजिटल मार्केटिंग अब गैर-इंटरनेट चैनलों तक फैली हुई है जो डिजिटल मीडिया, जैसे मोबाइल फोन ( एसएमएस और एमएमएस ), कॉलबैक और ऑन-होल्ड मोबाइल रिंग टोन प्रदान करते हैं। संक्षेप में, गैर- इन्टरनेट चैनलों के लिए यह विस्तार ऑनलाइन मार्केटिंग से डिजिटल मार्केटिंग को अलग करने में मदद करता है, ऊपर उल्लिखित विपणन विधियों के लिए एक और कैच-ऑल टर्म, जो ऑनलाइन सख्ती से होता है।


मक्का की पैदावार के नए मानक

भारत के अधिकांश मैदानी भागों से लेकर २७०० मीटर उँचाई वाले पहाडी क्षेत्रों तक मक्का सफलतापूर्वक उगाया जाता है। इसे सभी प्रकार की मिट्टियों में उगाया जा सकता है तथा बलुई, दोमट मिट्टी मक्का की खेती के लिये बेहतर समझी जाती है। मक्का एक ऐसा खाद्यान्न है जो मोटे अनाज की श्रेणी में आता तो है परंतु इसकी पैदावार पिछले दशक में भारत में एक महत्त्वपूर्ण फसल के रूप में मोड़ ले चुकी है क्योंकि यह फसल सभी मोटे व प्रमुख खाद्दानो की बढ़ोत्तरी दर में सबसे अग्रणी है। आज जब गेहूँ और धान मे उपज बढ़ाना कठिन होता जा रहा है, मक्का पैदावार के नये मानक प्रस्तुत कर रही है जो इस समय बढ्कर 5.98 तक पहुँच चुका है।


यह फसल भारत की भूमि पर १६०० ई० के अन्त में ही पैदा करना शुरू की गई और आज भारत संसार के प्रमुख उत्पादक देशों में शामिल है। जितनी प्रकार की मक्का भारत में उत्पन्न की जाती है, शायद ही किसी अन्य देश में उतनी प्रकार की मक्का उत्पादित की जा रही है। हाँ यह बात और है कि भारत मक्का के उपयोगो मे काफी पिछडा हुआ है। जबकि अमरीका में यह एक पूर्णतया औद्याोगिक फसल के रूप में उत्पादित की जाती है और इससे विविध औद्याोगिक पदार्थ बनाऐ जाते है। भारत में मक्का का महत्त्व एक केवल खाद्यान्न की फसल के रूप मे जाना जाता है। सयुक्त राज्य अमरीका मे मक्का का अधिकतम उपयोग स्टार्च बनाने के लिये किया जाता है।


भारत में मक्का की खेती जिन राज्यों में व्यापक रूप से की जाती है वे हैं - आन्ध्र प्रदेश, बिहार, कर्नाटक, राजस्थान, उत्तर प्रदेश इत्यादि। इनमे से राजस्थान में मक्का का सर्वाधिक क्षेत्रफल है व आन्ध्रा में सर्वाधिक उत्पादन होता है। परन्तु मक्का का महत्व जम्मू कश्मीर, हिमाचल, पूर्वोत्तर राज्यों, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ, महाराष्ट्र, गुजरात व झारखण्ड में भी काफी अधिक है।


औषधीय पौधा 'गुल् अब्बास'

यह फूल साधारण रूप से चार बजे के लगभग में खिलता है, जिस से इसे "चार बजे की फूल" की संज्ञा भी दी जाती है। फूलों का उपयोग फूड कलरिंग में किया जाता है। पत्तियों को पका हुआ भी खाया जा सकता है, लेकिन केवल एक आपातकालीन भोजन के रूप में। फूलों से केक और जेली के लिए एक खाद्य क्रिमसन डाई प्राप्त की जाती है। हर्बल चिकित्सा में, पौधे के कुछ हिस्सों को मूत्रवर्धक, शुद्धिकारक और कमजोर (घाव भरने वाले) उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह माना जाता है कि मूत्रवर्धक और मूत्रवर्धक गुणों के साथ ही यह कामोत्तेजक भी है। इसका उपयोग ड्रॉप्सी के उपचार में भी किया जाता है। पत्तियों का उपयोग सूजन को कम करने के लिए किया जाता है। फोड़े का इलाज करने के लिए उनमें से एक काढ़े (मैशिंग और उबलते द्वारा) का उपयोग किया जाता है। पत्तों का रस घावों के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। फूल की बल्बनुमा जड़ों में एक रेचक प्रभाव होता है। पाउडर, कुछ किस्मों के बीज को कॉस्मेटिक और डाई के रूप में उपयोग किया जाता है। बीज को जहरीला माना जाता है। संयंत्र में कैडमियम जैसे भारी धातुओं के मध्यम सांद्रता के साथ प्रदूषित मिट्टी के बायोरेमेडिएशन की क्षमता है। ब्राजील में, भारतीय कायापो सूखे हुए फूलों के पाउडर को सूंघने और सिर के घाव को धोने के लिए जड़ के काढ़े का उपयोग करते हैं और कुष्ठ रोग जैसे त्वचा की स्थिति का इलाज करते हैं। पेरू में, फूलों से निकाले गए रस का उपयोग दाद और घावों के लिए किया जाता है। जड़ से निकाला गया रस कान का दर्द, दस्त, पेचिश, उपदंश और यकृत संक्रमण के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। मेक्सिको में, पूरे पौधे के काढ़े का उपयोग पेचिश, संक्रमित घाव और मधुमक्खी और बिच्छू के डंक के लिए किया जाता है।


कीवी में असामान्य रोग क्षमता

कीवी (वैज्ञानिक नाम- एक्टीनीडिया डेलीसिओसा) देखने में हल्का भूरा, रोएदार व आयताकार, रूप में चीकू फल की तरह का फल होता है। इसमें विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। किवी एक विशेष प्रकार का स्वादिष्ट फल होता है। किवी अपने सुंदर रंग के लिए लोगो में अधिक पसंद किया जा रहा है। किवी में विटामिन सी, विटामिन इ, विटामिन के और प्रचुर मात्रा में पोटैशियम, फोलेट होते है। किवी फल में अधिक मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट होता है। यह एंटी ऑक्सीडेंट शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है यानि शरीर को बीमारियों से बचाने में मदद करता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है! जिस ब्यक्ति को डेंगू मलेरिया या फिर इंफेक्सम की बीमारी हो यह फल बहुत लाभदायक होता है।


किवी के पोषक तत्व:-कीवी में उच्च मात्रा में विटामिन सी एव अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है। इसके अलावा विटामिन ई, पोटेशियम पॉलिटेक्निक, कॉपर, सोडियम, रोगो से बचाने वाले एंटीऑक्सीडेंट होते है। शरीर के इलेक्ट्रॉन बनाने के लिए फायदेमंद रहती है।


किवी के स्वास्थ्य लाभ 
नींद के लिए :- किवी प्राकृतिक एंजाइमों से भरपूर भरा हुआ रहता है। यह नींद को अच्छा रखने में मदद करता है। इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट स्वास्थ्य को स्वस्थ बनाये रखने में और नींद नहीं आने की समस्या को दूर करने में सहायता करता है। किवी फल में उच्च मात्रा में सेरोटोनिन होते है। यदि आपको अनिद्रा की समस्या है तो किवी फल का सेवन करना बहुत ही फायदेमंद होता है।
वजन घटाने के लिए :- किवी में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन होते है। जो शरीर में वसा की मात्रा को बढ़ने नहीं देते है। इसके कारण शरीर का वजन नहीं बढ़ता है। जिन व्यक्तियों को अपना वजन कम करना है तो उनको किवी का सेवन रोजाना करना चाहिए।
रक्त चाप कम करने के लिए :- किवी में कई तरह के विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट तत्व के गुण होते है। जो शरीर के रक्त चाप को नियंत्रण करने में सहायता करते है। रक्त चाप के मरीजों को आहार में किवी फल का सेवन करना चाहिए।
प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए :- किवी के एंटीऑक्सीडेंट तत्व शरीर की इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत रखने में सहायता करता है। जिसके कारण शरीर को बीमारियों से लड़ने की ताकत मिले यानि वह व्यक्ति जल्दी बीमार नहीं होता है।
आंखो के लिए :- किवी फल बहुत गुणों से भरा हुआ रहता है। रोजाना किवी का सेवन करने आंखो की रौशनीशक्ति बढ़ती है। आंखो से जुडी समस्या को ठीक करने में सहायता करता है। यह मूल रूप से चीन का पैदावार हैं। चीन में आज भी विश्व का ५६% कीवी फल का पैदावार चीन में होता है।


असुविधा में यज्ञ कैसे करें?

गतांक से...
 मैंने बहुत पुरातन काल में अपने पूज्यपाद गुरुदेव से प्रकट करते हुए कहा था! हे पूज्यपाद, यह समाज जाने कहां जा रहा है, मैं इसको नहीं जान पा रहा हूं? प्रहा धन-धन्म ब्रहे, पूज्यपाद गुरुदेव ने मुझे शिक्षा दी और विचार दिए कि यदि राष्ट्र को उन्नत बनाना है! अग्नि से दूरी कर देना है, नम्रता में लाना है तो राजा को चाहिए कि वह ब्रह्म ज्ञान का अध्ययन करें! तपस्वी बने! जैसे मेरे पूज्य पाद गुरुदेव कई समय से राष्ट्रवाद और राम की चर्चा कर रहे थे! पूज्य पाद,ॠषिवर विद्यमान है! परंतु चर्चा कर रहे हैं, महान बनने की और वही चर्चा जब क्रियावान बन जाती है तो वहीं चर्चा महान बन करके राष्ट्र में एक माधुरीता को जन्म दे देती है! विचार आता रहता है मैं गुरुदेव को निर्णय करा रहा हूं! आधुनिक काल का जो काल चल रहा है! यहां राष्ट्र का तो अभाव है, मैं दृष्टिपात करता रहता हूं! ब्रह्म ज्ञानी, ज्ञानी परंतु वह ज्ञानी भी नहीं है! आसन की लोलुपता में वह समाज रत हो रहा है! वह धर्म में और अन्य में रत हो रहा है! विचार आता रहता है कि मेरा जीवन कैसे ऊंचा बने? परंतु मैं यह कहा करता हूं कि राजा से कहो, हे राजा तेरे रास्ते में रूढि नहीं रहनी चाहिए! तुम ब्रह्मावेता बन करके उसका निराकरण करो और अपनी राष्ट्रीय प्रणाली को पवित्र बनाओ! इस प्रकार मेरे पूज्य पाद गुरुदेव मुझे उपदेश दे रहे हैं! कई समय हो गए हैं राम की चर्चा करते हुए! राम जैसे महान शाखा की चर्चा, जिसका जीवन सदैव आभा में निहित रहा है और वह अपने में अपनेपन की वृत्तियो में रत रहने के लिए तत्पर रहे हैं! विचार आता रहता है मैं यह गीत गाता रहता हू! मेरे पूज्य पाद गुरुदेव यह जो वर्तमान का काल चल रहा है यह सुरा-सुंदरी और वाम-मार्ग का काल चल रहा है! इसलिए मैं अपने यज्ञमान को कहता हूं कि तुम्हारे जीवन का सौभाग्य अखंड बना रहे! तुम्हारे गृह में धर्म का सदैव सदुपयोग होता है! देवताओं की पूजा करना ही तुम्हारा कर्तव्य है! यदि समाज को ऊंचा बनाना चाहते हो, अग्नि विभाजन करती है, अग्नि भेदन करके तुम्हारी प्रवृत्तियों को महान बना सकती है! परंतु इसी प्रकार,वेदाम भू वेदाम ब्रथम, पूज्य पाद ने मुझे वर्णन कराया की प्रथम यह सर्वत्र एक आभा में निहित होने वाला, यह जगत है! मैं अपने पूज्यपाद गुरुदेव से यह गीत गाने के लिए आया हूं! हे प्रभु, आज राष्ट्रवाद न होने से मानव, मानव रक्त का भक्षक बनने के लिए तत्पर हो रहा है! यहां धर्म के नाम पर नाना प्रकार की मान्यताएं हैं और ये मान्यताएं ऐसी बन गई है! जो राष्ट्र का विनाश कर सकती है! इसीलिए मैं कहता हूं,हे राजन ब्रह्मज्ञानी बन और तेरे अंग-संग विधमान होने वाले रूढ़ियों के आचार्यों का शास्त्रार्थ हो, राजा स्वयं निर्णय देने वाला हो,जब वह निर्णायक बन जाता है! तो समाज में पवित्रता जाती है और यह निर्णय नायक को प्राप्त करता हुआ सागर से पार होने का प्रयास करता है!


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


नवंबर 08, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-94 (साल-01)
2. शुक्रवार, नवंबर 08, 2019
3. शक-1941, कार्तिक-शुक्ल पक्ष, तिथि- द्वादशी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:31,सूर्यास्त 05:38
5. न्‍यूनतम तापमान -16 डी.सै.,अधिकतम-23+ डी.सै., छिटपुट बरसात की संभावना रहेगी।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित


डीएम ने अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दियें

कौशाम्बी। जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने सोमवार को कलेक्ट्रेट स्थित कार्यालयों तथा परिसर का निरीक्षण कर सम्बंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्दे...